27 june ki murli

TODAY MURLI 27 JUNE 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 27 June 2020

27/06/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are now entering new relationships. Therefore, forget all your relationships here that are based on karmic bondage and make effort to become karmateet.
Question: Which children does the Father praise? To which children does He give the most love?
Answer: Baba sings praise of His poor children, “This poverty is so wonderful.” Don’t become greedy but remain comfortable; just eat two chapattis. Poor children remember the Father with a lot of love. Baba is pleased to see the uneducated children because they don’t have to make effort to forget what they have studied.

Om shanti. The Father doesn’t need to tell you children every day to consider yourselves to be souls. “May you be soul conscious,” means, “May you remain in the awareness of being bodiless.” These words mean the same thing. The Father says: Consider yourself to be a soul. A part of 84 births is recorded in each of you souls. You souls take bodies, play your parts and then your bodies perish. Souls are imperishable. It is only now that you children receive this knowledge. No one else knows about these things. The Father says: Now try to remember the Father as much as possible. When you are busy in your business, you don’t have that much remembrance. Stay at home with your family but live as pure as a lotus flower and remember Me as much as possible. It isn’t that you only have to sit here for meditation that is especially conducted. The words “conducted meditation” are wrong. In fact, it is just remembrance. No matter where you are sitting, remember the Father. Many storms of Maya will come. Some will remember one thing and others will remember something else. Storms will definitely come. Therefore, at that time, you have to chase them away so that they don’t come. Even whilst you sit here, Maya continues to harass you a great deal. This is a battle. The lighter you remain, the less your bondages. At first, you souls are free from bondage. When you take birth, your intellects are drawn to your parents. Then a partner is adopted. Things that weren’t there before now start to appear in front of you. Then children are born and remembrance of them increases. All of them now have to be forgotten. Only the one Father must be remembered. This is why the Father is praised. He is your Mother, your Father etc.; He is everything to you. Remember Him alone! Everything He gives you for the future is new. He also sends you into new relationships. There will be relationships there too. It isn’t that there will be annihilation. You shed your bodies and take others. Those who have been very good will definitely take birth in an elevated family. You are studying now for your future 21 births. Your studies will end and your reward will start. In a school, they study and are then transferred. You too are going to be transferred, first to the land of peace and then to the land of happiness. You will be liberated from this dirty world. This is called hell. The golden age is called heaven. Human beings here are in total darkness. The wealthy think that this is heaven for them here. Heaven exists in the new world. This old world is going to be destroyed. Those who reach their karmateet stage will not have to experience punishment in the realm of Dharamraj. There will be no punishment in heaven. There, even the wombs you enter are like palaces. There is no question of sorrow there. Here, a womb is like a jail, and therefore punishment is experienced. Just remember how many times you have become residents of heaven and you will remember the whole cycle. Just this one aspect is worth hundreds of thousands of rupees. When you forget this and become body conscious, Maya causes you a great loss. This is the effort you must make. No one can claim a high status without making effort. Some say: Baba, I am uneducated. or: Baba, I don’t know anything. Baba then becomes very happy because everything you have studied so far has to be forgotten here. What you studied was just for a short time in order for you to earn your livelihood etc. You know that everything is now going to be destroyed. Remember the Father as much as possible and eat a piece of chapatti in great happiness. The poverty of this time is wonderful! Don’t become greedy but simply eat a piece of chapatti in comfort. Nowadays, there is even a shortage of grain. Gradually, you won’t even be able to obtain sugar. It isn’t that because you are doing God’s service, the Government will give you everything! They don’t know anything. Yes, you children are told to explain to the Government that all of us are going to our Parent’s home together. Baba has to send toli to some children. Here, they very clearly say, “No, we haven’t got any!” Perhaps they would give a little to those in desperate circumstances, just as someone wealthy would give a handful to a fakir (religious wandering ascetic). Poor ones would only give a little. Sugar etc. can be brought here, but the yoga of you children then decreases. Because you don’t stay in remembrance, but become body conscious, you accomplish nothing. This task will not be accomplished by studying as much as through yoga. There is very little yoga. Maya makes you forget to have remembrance. She catches hold of the powerful ones very strongly. Even very good and first-class children have bad omens over them. The main reason for their having bad omens is their lack of yoga. Because of bad omens, some children become trapped in someone’s name and form. This destination is very high. If you really do want to reach your true destination, you have to stay in remembrance. The Father says: Knowledge is better than trance but remembrance is better than knowledge. When you go into trance too much, the evil spirits of Maya enter you. Many go into trance unnecessarily. They speak of so many things. They shouldn’t be trusted. Knowledge is received from Baba’s murli. The Father continues to warn you that trance is of no use. There is a lot of interference by Maya in that. There is also arrogance. Everyone continues to receive this knowledge. It is Shiv Baba who gives you this knowledge. Mama too used to receive knowledge here. That can also be called “Manmanabhav”. Remember the Father and imbibe divine virtues. Check yourself to see whether you are imbibing divine virtues. It is here that divine virtues have to be imbibed. You can see that someone’s stage is firstclass one moment, that he does everything in great happiness and that, after an hour, the evil spirit of anger comes and everything is then finished. Then he becomes aware that he made a mistake and he reforms himself. Some of you are like an hour clock. Baba has many children like that. One moment, they are so sweet that Baba would even say that He will sacrifice Himself to such children. Then, after an hour, they become upset about one thing or another. Anger comes and everything you had earned up to then is destroyed. One moment, there is an income accumulated and the next moment there is a loss. Everything depends on remembrance. Knowledge is very easy. Even a small child can explain it. However, they have to understand Me accurately – who I am and what I am. Little children are unable to remember Me whilst considering themselves to be souls. When someone is about to die, he is told to remember God, but, because he doesn’t know Him accurately he would be unable to remember Him accurately. Neither can anyone return home yet nor can anyone’s sins be absolved by that. From the beginning, rishis and munis have been saying that they don’t know the Creator or creation. At the beginning, they were satoguni at least! How could their present tamopradhan intellects understand this? The Father says: Even Lakshmi and Narayan don’t know Me. If the king and queen don’t know, how could their subjects know? No one knows Me. At present, only you children know Me. Amongst you too, there are some who know Me accurately. Some say: Baba, I forget you again and again. The Father says: Wherever you go, simply remember the Father. The income you earn from this is so huge! You become free from illness for 21 births. You must become introspective to remember such a Father. However, Maya makes you forget Him and brings storms. Here, you have to become introspective and churn the ocean of knowledge. It is only now that you have to churn the ocean of knowledge. This is the confluence age in which you become the most elevated human beings of all. You children must have seen the wonder of how, in the same family, the husband says that he belongs to the confluence age and his half-partner and children say that they belong to the iron age. There is so much difference. The things that the Father explains are very subtle and refined. Even whilst you live at home with your family, you must keep the fact in your intellect that you are making effort to become a flower. This is a matter of experience. You have to make this practical effort. Effort just lies in remembrance. In the same home, one would be a swan and the other one a stork. Some couples are firstclass. They never have any thought of vice. They live together and still remain pure. They show how courageous they are. Therefore, they will receive such a high status. There are many such children. Some beat others and quarrel with them for vice. Your stage should be such that you don’t even have the slightest thought of becoming impure. The Father continues to advise you for every situation. You know that you will become Shri Lakshmi or Shri Narayan by following the directions of Shri Shri. Shri means elevated. In the golden age, you are number one elevated. In the silver age, there are two degrees less. You children receive this knowledge at this time. The law for this gathering of God is that only those who value the jewels of knowledge and who never yawn should sit in the front. Some children sit in front of the Father and then continue to yawn or even nod off. They should go and sit at the back. This is God’s gathering of His children. In spite of that, some teachers still bring such people here. You are receiving wealth from the Father. Each version is worth hundreds of thousands of rupees. You know that it is only at the confluence age that you are given this knowledge. You say: Baba, we have come once again to claim our unlimited inheritance. Baba repeatedly says to you sweetest children: This world is dirty. You must have unlimited disinterest in it. The Father says: Whatever you see now in this world will not exist tomorrow. There will be no name or trace of temples etc. There, in heaven, there is no need for anyone to visit ancient things. Here, so much value is placed on ancient things. In fact, nothing, apart from the Father, has any value. The Father says: If I didn’t come, how would you claim the kingdom? Those who are aware of this will come and claim their inheritance from the Father. This is why only a handful out of multimillions are remembered. There shouldn’t be any doubt about anything. We also have the custom and system of offering bhog. That has no connection with knowledge or remembrance. You have no connection with anything else. There are just two things: Alpha and beta, the kingdom. God is called Alpha. People point upwards with their finger to remember Him. It is the soul that points. The Father says: You remember Me on the path of devotion. All of you are My lovers. You also know that Baba comes every cycle and liberates all human beings from their sorrow and gives them peace and happiness. This is why Baba has told you to put up a board on which it is written: Come and understand how the unlimited Father is establishing peace in the world. If you want to understand how to become a master of the world for 21 births in a second, come here and understand. Put up a board outside your home. You can open the greatest hospital and university on just three feet of land. By having remembrance, you become free from disease for 21 births and, through this study, you receive the sovereignty of heaven. Even the subjects say that they will become the masters of heaven. Today, because human beings are residents of hell, they are ashamed. They themselves say: Our father has become a resident of heaven and we are therefore residents of hell. When we die, we will go to heaven. This is such an easy matter. They say of someone who accomplished one good task that he was a special person or a great donor, and that he has now gone to heaven. However, no one can go there yet. When a play ends, everyone comes and stands on the stage. This war will take place when all the actors have arrived here. Then everyone will return home. “The wedding procession of Shiva,” has been remembered. All souls will return with Shiv Baba. The main thing is that your 84 births are now ending. This shoe now has to be discarded, just as a snake sheds its old skin and takes a new one. You will have a new skin (body) in the golden age. Shri Krishna is so beautiful! He has so much attraction! He has a firstclass body. We will all receive such bodies. You say: I will become Narayan. This skin is decayed and dirty. I will shed this and go to the new world. Since you say that you are becoming Narayan from a human being, why don’t you remember this and experience happiness? Understand this story of the true Narayan very well. Demonstrate this by putting what you say into practice. Your deeds should be equal to your words. Carry on with your business etc., but the Father says: Let your hands do the work whilst your heart remains in remembrance of the Father. The more knowledge you imbibe, the more value you will place on it. You become so wealthy by imbibing this knowledge. This is spiritual knowledge. You are souls. It is a soul that speaks through a body. It is a soul that gives knowledge and it is a soul that imbibes knowledge. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Even whilst having to see the old things of this old world, don’t see them. In order to become Narayan from an ordinary human being, make your deeds equal to your words.
  2. Value these imperishable jewels of knowledge. The income you are earning is so huge. Never yawn or nod off. In order to remain safe from the bad omens of being attracted to someone’s name and form, make effort to stay in remembrance.
Blessing: May you become a constant embodiment of success by experiencing being a companion and a detached observer.
The children who constantly stay with the Father automatically become detached observers because the Father Himself plays His part as a detached observer. Therefore, those who stay with Him would also play their parts as detached observers, and those who have the Almighty Authority Father as their Companion automatically become embodiments of success. On the path of devotion, they call out to experience His company for a short time, and to have a glimpse of Him, but you have become His companions in all relationships. Therefore, maintain the happiness and intoxication that you have attained what you wanted to attain.
Slogan: The sign of wasteful thoughts is a sad mind and happiness disappearing.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 27 JUNE 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 27 June 2020

Murli Pdf for Print : – 

27-06-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – अब तुम नये सम्बन्ध में जा रहे हो, इसलिए यहाँ के कर्मबन्धनी सम्बन्धों को भूल, कर्मातीत बनने का पुरूषार्थ करो”
प्रश्नः- बाप किन बच्चों की वाह-वाह करते हैं? सबसे अधिक प्यार किन्हों को देते हैं?
उत्तर:- बाबा गरीब बच्चों की वाह-वाह करते हैं, वाह गरीबी वाह! आराम से दो रोटी खाना है, हबच (लालच) नहीं। गरीब बच्चे बाप को प्यार से याद करते हैं। बाबा अनपढ़े बच्चों को देख खुश होते हैं क्योंकि उन्हें पढ़ा हुआ भूलने की मेहनत नहीं करनी पड़ती है।

ओम् शान्ति। अब बाप को बच्चों के प्रति रोज़-रोज़ बोलने की दरकार नहीं रहती कि अपने को आत्मा समझो। आत्म-अभिमानी भव अथवा देही-अभिमानी भव… अक्षर है तो वही ना। बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझो। आत्मा में ही 84 जन्मों का पार्ट भरा हुआ है। एक शरीर लिया, पार्ट बजाया फिर शरीर खलास हो जाता है। आत्मा तो अविनाशी है। तुम बच्चों को यह ज्ञान अभी ही मिलता है और कोई को इन बातों का पता नहीं है। अब बाप कहते हैं-कोशिश कर जितना हो सके बाप को याद करो। धन्धेधोरी में लग जाने से तो इतनी याद नहीं ठहरती। गृहस्थ व्यवहार में रहकर कमल फूल समान पवित्र बनना है। फिर जितना हो सके मुझे याद करो। ऐसे नहीं कि हमको नेष्ठा में बैठना है। नेष्ठा अक्षर भी रांग है। वास्तव में है ही याद। कहाँ भी बैठे हो, बाप को याद करो। माया के तूफान तो बहुत आयेंगे। कोई को क्या याद आयेगा, कोई को क्या। तूफान आयेंगे जरूर फिर उस समय उनको मिटाना पड़ता है कि न आयें। यहाँ बैठे-बैठे भी माया बहुत तंग करती रहेगी। यही तो युद्ध है। जितने हल्के होंगे उतने बंधन कम होंगे। पहले तो आत्मा निर्बन्धन है, जब जन्म लेती तो माँ-बाप में बुद्धि जाती है फिर स्त्री को एडाप्ट करते हैं, जो चीज़ सामने नहीं थी वह सामने आ जाती, फिर बच्चे पैदा होंगे तो उनकी याद बढ़ेगी। अब तुम सबको यह भूल जाना है, एक बाप को ही याद करना है, इसलिए ही बाप की महिमा है। तुम्हारा मात-पिता आदि सब कुछ वही है, उनको ही याद करो। वह तुमको भविष्य के लिए सब कुछ नया देते हैं। नये संबंध में ले आते हैं। सम्बन्ध तो वहाँ भी होगा ना। ऐसे तो नहीं कि कोई प्रलय हो जाती है। तुम एक शरीर छोड़ फिर दूसरा लेते हो। जो बहुत अच्छे-अच्छे हैं वह जरूर ऊंच कुल में जन्म लेंगे। तुम पढ़ते ही हो भविष्य 21 जन्म के लिए। पढ़ाई पूरी हुई और प्रालब्ध शुरू होगी। स्कूल में पढ़कर ट्रांसफर होते हैं ना। तुम भी ट्रांसफर होने वाले हो-शान्तिधाम फिर सुखधाम में। इस छी-छी दुनिया से छूट जायेंगे। इसका नाम ही है नर्क। सतयुग को कहा जाता है स्वर्ग। यहाँ मनुष्य कितने घोर अन्धियारे में हैं। धनवान जो हैं वह समझते हैं हमारे लिए यहाँ ही स्वर्ग है। स्वर्ग होता ही है नई दुनिया में। यह पुरानी दुनिया तो विनाश हो जानी है। जो कर्मातीत अवस्था वाले होंगे वह कोई धर्मराज पुरी में सज़ायें थोड़ेही भोगेंगे। स्वर्ग में तो सज़ा होगी ही नहीं। वहाँ गर्भ भी महल रहता है। कोई दु:ख की बात नहीं। यहाँ तो गर्भ जेल है जो सज़ायें खाते रहते हैं। तुम कितना बार स्वर्गवासी बनते हो-यह याद करो तो भी सारा चक्र याद रहे। एक ही बात लाखों रूपये की है। यह भूल जाने से, देह-अभिमान में आने से माया नुकसान करती है। यही मेहनत है। मेहनत बिगर ऊंच पद नहीं पा सकते। बाबा को कहते हैं-बाबा हम अनपढ़े हैं, कुछ नहीं जानते। बाबा तो खुश होते हैं क्योंकि यहाँ तो पढ़ा हुआ सब भूलना है। यह तो थोड़े टाइम के लिए शरीर निर्वाह आदि के लिए पढ़ना है। जानते हो ना-यह सब खलास होने का है। जितना हो सके बाप को याद करना है और रोटी टुकड़ा खुशी से खाना है। वाह गरीबी इस समय की। आराम से रोटी टुकड़ खाना है। हबच (लालच) नहीं। आजकल अनाज मिलता कहाँ है। चीनी आदि भी धीरे-धीरे करके मिलेगी ही नहीं। ऐसे नहीं, तुम ईश्वरीय सर्विस करते हो तो तुमको गवर्मेन्ट दे देगी। वह तो कुछ भी जानते नहीं। हाँ, बच्चों को कहा जाता है-गवर्मेन्ट को समझाओ कि हम सब मिलकर माँ-बाप के पास जाते हैं, उन्हों को बच्चों के लिए टोली भेजनी होती है। यहाँ तो साफ कह देते कि है ही नहीं। लाचारी थोड़ी दे देते हैं। जैसे फकीर लोगों को कोई साहूकार होगा तो मुट्ठी भरकर दे देगा। गरीब होगा तो थोड़ा बहुत दे देगा। चीनी आदि आ सकती है परन्तु बच्चों का योग कम हो जाता है। याद न रहने कारण, देह-अभिमान में आने के कारण कोई काम हो नहीं सकता। यह काम पढ़ाई से इतना नहीं होगा जितना योग से होगा। वह बहुत कम है। माया याद को उड़ा देती है। रूसतम को और ही अच्छी रीति पकड़ती है। अच्छे-अच्छे फर्स्टक्लास बच्चों पर भी ग्रहचारी बैठती है। ग्रहचारी बैठने का मुख्य कारण योग की कमी है। ग्रहचारी के कारण ही नाम-रूप में फँस मरते हैं। यह बड़ी मंजिल है। अगर सच्ची मंजिल पानी है, तो याद में रहना पड़े।

बाप कहते हैं – ध्यान से भी ज्ञान अच्छा। ज्ञान से याद अच्छी। ध्यान में जास्ती जाने से माया के भूतों की प्रवेशता हो जाती है। ऐसे बहुत हैं जो फालतू ध्यान में जाते हैं। क्या-क्या बोलते हैं, उन पर विश्वास नहीं करना। ज्ञान तो बाबा की मुरली में मिलता रहता है। बाप खबरदार करते रहते हैं। ध्यान कोई काम का नहीं है। बहुत माया की प्रवेशता हो जाती है। अहंकार आ जाता है। ज्ञान तो सबको मिलता रहता है। ज्ञान देने वाला शिवबाबा है। मम्मा को भी यहाँ से ज्ञान मिलता था ना। उनको भी कहेंगे मनमनाभव। बाप को याद करो, दैवीगुण धारण करो। अपने को देखना है हम दैवी गुण धारण करते हैं? यहाँ ही दैवीगुण धारण करने हैं। कोई को देखो अभी फर्स्टक्लास अवस्था है, खुशी से काम करते, घण्टे के बाद क्रोध का भूत आया, खत्म। फिर स्मृति आती है, यह तो हमने भूल की। फिर सुधर जाते हैं। घड़ी-घड़ी के घड़ियाल – बाबा पास बहुत हैं, अभी देखो बड़े मीठे, बाबा कहेंगे ऐसे बच्चों पर तो कुर्बान जाऊं। घण्टे बाद फिर कोई न कोई बात में बिगड़ पड़ते। क्रोध आया, सारी की कमाई खत्म हो गई। अभी-अभी कमाई, अभी-अभी घाटा हो जाता। सारा मदार याद पर ही है। ज्ञान तो बड़ा सहज है। छोटा बच्चा भी समझा ले। परन्तु मैं जो हूँ, जैसा हूँ, यथार्थ रीति जानें। अपने को आत्मा समझें, इस रीति छोटे बच्चे थोड़ेही याद कर सकेंगे। मनुष्यों को मरने समय कहा जाता है भगवान को याद करो। परन्तु याद कर न सके क्योंकि यथार्थ कोई भी जानते नहीं हैं। कोई भी वापिस जा नहीं सकते। न विकर्म विनाश होते हैं। परम्परा से ऋषि-मुनि आदि सब कहते आये कि रचता और रचना को हम नहीं जानते। वह तो फिर भी सतोगुणी थे। आज के तमोप्रधान बुद्धि फिर कैसे जान सकते। बाप कहते हैं यह लक्ष्मी-नारायण भी नहीं जानते। राजा-रानी ही नहीं जानते तो फिर प्रजा कैसे जानेंगी। कोई भी नहीं जानते। अभी सिर्फ तुम बच्चे ही जानते हो। तुम्हारे में भी कोई हैं जो यथार्थ रीति जानते हैं, कहते हैं बाबा घड़ी-घड़ी भूल जाते हैं। बाप कहते हैं-कहाँ भी जाओ सिर्फ बाप को याद करो। बड़ी भारी कमाई है। तुम 21 जन्मों के लिए निरोगी बनते हो। ऐसे बाप को अन्तर्मुख हो याद करना चाहिए ना। परन्तु माया भुलाकर तूफान में ला देती है, इसमें अन्तर्मुख हो विचार सागर मंथन करना है। विचार सागर मंथन करने की बात भी अभी की है। यह है पुरूषोत्तम बनने का संगमयुग। यह भी वन्डर है, तुम बच्चों ने देखा है-एक ही घर में तुम कहते हो हम संगमयुगी हैं और हाफ पार्टनर वा बच्चा आदि कलियुगी है। कितना फ़र्क है। बड़ी महीन बात बाप समझाते हैं। घर में रहते हुए भी बुद्धि में है कि हम फूल बनने के लिए पुरूषार्थ कर रहे हैं। यह है अनुभव की बातें। प्रैक्टिकल में मेहनत करनी है। याद की ही मेहनत है। एक ही घर में एक हंस तो दूसरा बगुला। फिर कोई बड़े फर्स्टक्लास होते हैं। कभी विकार का ख्याल भी नहीं आता है। साथ में रहते भी पवित्र रहते हैं, हिम्मत दिखाते हैं तो उन्हें कितना ऊंच पद मिलेगा। ऐसे भी बच्चे हैं ना। कई तो देखो विकार के लिए कितना मारते झगड़ा करते हैं, अवस्था वह होनी चाहिए जो संकल्प में भी कभी अपवित्र बनने का ख्याल न आये। बाप हर प्रकार से राय देते रहते हैं। तुम जानते हो श्री श्री की मत से हम श्री लक्ष्मी, श्री नारायण बनते हैं। श्री माना ही श्रेष्ठ। सतयुग में है नम्बरवन श्रेष्ठ। त्रेता में दो डिग्री कम हो जाती हैं। यह ज्ञान तुम बच्चों को अभी मिलता है।

इस ईश्वरीय सभा का कायदा है – जिन्हें ज्ञान रत्नों का कदर है, कभी उबासी आदि नहीं लेते हैं उन्हें आगे-आगे बैठना चाहिए। कोई-कोई बच्चे बाप के सामने बैठे भी झुटका खाते, उबासी देते रहते। उनको फिर पिछाड़ी में जाकर बैठना चाहिए। यह ईश्वरीय सभा है बच्चों की। परन्तु कई ब्राह्मणियाँ ऐसे-ऐसे को भी ले आती हैं, यूँ तो बाप से धन मिलता है, एक-एक वरशन्स लाखों रूपये का है। तुम जानते हो ज्ञान मिलता ही है संगम पर। तुम कहते हो बाबा हम फिर से आये हैं बेहद का वर्सा लेने। मीठे-मीठे बच्चों को बाबा बार-बार समझाते हैं यह छी-छी दुनिया है, तुम्हारा है बेहद का वैराग्य। बाप कहते हैं इस दुनिया में तुम जो कुछ देखते हो वह कल होगा नहीं। मन्दिरों आदि का नाम निशान हीं नही रहेगा। वहाँ स्वर्ग में उन्हों को पुरानी चीज़ देखने की दरकार नहीं। यहाँ तो पुरानी चीज़ का कितना मूल्य है। वास्तव में कोई चीज़ का मूल्य नहीं है सिवाए एक बाप के। बाप कहते हैं मैं न आऊं तो तुम राजाई कैसे लो। जिनको मालूम है वही आकर बाप से वर्सा लेते हैं, इसलिए कोटों में कोई कहा जाता है। कोई भी बात में संशय नहीं आना चाहिए। भोग आदि की भी रस्म-रिवाज है। इनसे ज्ञान और याद का कोई कनेक्शन नहीं है। और कोई बात से तुम्हारा तैलुक नहीं। सिर्फ दो बातें हैं अल्फ और बे, बादशाही। अल्फ भगवान को कहा जाता है। अंगुली से भी ऐसे इशारा करते हैं ना। आत्मा इशारा करती है ना। बाप कहते हैं भक्ति मार्ग में तुम मुझे याद करते हो। तुम सब मेरे आशिक हो। यह भी जानते हो बाबा कल्प-कल्प आकर सब मनुष्य मात्र को दु:ख से छुड़ाए शान्ति और सुख देते हैं, तब बाबा ने कहा था कि सिर्फ यह बोर्ड लिख दो कि विश्व में शान्ति बेहद का बाप कैसे स्थापन कर रहे हैं सो आकर समझो। एक सेकण्ड में विश्व का मालिक 21 जन्म लिए बनना है तो आकर समझो। घर में बोर्ड लगा दो, तीन पैर पृथ्वी पर तुम बड़े से बड़ी हॉस्पिटल, युनिवर्सिटी खोल सकते हो। याद से 21 जन्म लिए निरोगी और पढ़ाई से स्वर्ग की बादशाही मिल जाती है। प्रजा भी कहेगी कि हम स्वर्ग के मालिक हैं। आज मनुष्यों को लज्जा आती है क्योंकि नर्कवासी हैं। खुद कहते हैं हमारा बाप स्वर्गवासी हुआ, तो नर्कवासी हो ना। जब मरेंगे तो स्वर्ग में जायेंगे। कितनी सहज बात है। अच्छा काम करने वाले के लिए खास कहते हैं यह बहुत महादानी था। यह स्वर्ग गया। परन्तु जाता कोई भी नहीं है। नाटक जब पूरा होता है तो सभी स्टेज पर आकर खड़े होते हैं। यह लड़ाई भी तब लगेगी जब सभी एक्टर्स यहाँ आ जायेंगे फिर लौटेंगे। शिव की बरात कहते हैं ना। शिवबाबा के साथ सभी आत्मायें जायेंगी। मूल बात अभी 84 जन्म पूरे हुए। अब इस जुत्ती को छोड़ना है। जैसे सर्प पुरानी खाल छोड़ नई लेते हैं। तुम नई खाल सतयुग में लेंगे। श्रीकृष्ण कितना खूबसूरत है, कितनी उसमें कशिश है। फर्स्टक्लास शरीर है। ऐसे हम लेंगे। कहते हैं ना-हम तो नारायण बनेंगे। यह तो सड़ी हुई छी-छी खल है। यह हम छोड़कर जायेंगे नई दुनिया में। यह याद करते खुशी क्यों नहीं होती, जब कहते हो हम नर से नारायण बनते हैं! इस सत्य नारायण की कथा को अच्छी रीति समझो। जो कहते हो वह करके दिखाओ। कहनी, करनी एक चाहिए। धंधा आदि भी भल करो। बाप कहते हैं हाथों से काम करो, दिल बाप की याद में रहे। जितनी-जितनी धारणा करेंगे उतना तुम्हारे पास नॉलेज की वैल्यु होती जायेगी, नॉलेज की धारणा से तुम कितना धनवान बनते हो। यह है रूहानी नॉलेज। तुम आत्मा हो, आत्मा ही शरीर से बोलती है। आत्मा ही ज्ञान देती है। आत्मा ही धारण करती है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) इस पुरानी दुनिया की पुरानी चीज़ों को देखते हुए भी नहीं देखना है। नर से नारायण बनने के लिए कहनी, करनी एक समान बनानी है।

2) अविनाशी ज्ञान रत्नों का कदर रखना है, यह बहुत बड़ी कमाई है, इसमें उबासी या झुटका नहीं आना चाहिए। नाम-रूप की ग्रहचारी से बचने के लिए याद में रहने का पुरूषार्थ करना है।

वरदान:- साथी और साक्षीपन के अनुभव द्वारा सदा सफलतामूर्त भव
जो बच्चे सदा बाप के साथ रहते हैं वह साक्षी स्वत: बन जाते हैं क्योंकि बाप स्वयं साक्षी होकर पार्ट बजाते हैं तो उनके साथ रहने वाले भी साक्षी होकर पार्ट बजायेंगे और जिनका साथी स्वयं सर्वशक्तिमान् बाप है वे सफलता मूर्त भी स्वत: बन ही जाते हैं। भक्ति मार्ग में तो पुकारते हैं कि थोड़े समय के साथ का अनुभव करा दो, झलक दिखा दो लेकिन आप सर्व सम्बन्धों से साथी हो गये-तो इसी खुशी और नशे में रहो कि पाना था सो पा लिया।
स्लोगन:- व्यर्थ संकल्पों की निशानी है-मन उदास और खुशी गायब।

TODAY MURLI 27 JUNE 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 27 June 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 26 June 2019 :- Click Here

27/06/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, have a keen interest in remembering the Father who makes you into the masters of the world. It is only by having remembrance that you will become satopradhan.
Question: To which one aspect should you pay full attention so that your forehead (intellect) opens up completely?
Answer: Pay attention to this study. God is teaching you and you must therefore never miss this study. You have to drink nectar for as long as you live. Pay attention to this study. Do not be absent. You must find a murli and study it. Every day there are new points in the murli through which your forehead opens up.

Om shanti. God Shiva speaks to the saligrams. This only happens once in the whole cycle. Only you know this. No one else can know this. Human beings don’t know this Creator or the beginning, middle and end of creation at all. You children know that there will be obstacles in establishment and that this is called the sacrificial fire of knowledge. The Father explains: Whatever you see in this old world is all to be sacrificed, and so you mustn’t have any attachment to it. The Father comes and teaches you for the new world. This is the most auspicious confluence age. This is the confluence of the vicious and the viceless, when change has to take place. The new world is called the viceless world. There was just the original, eternal, deity religion. You children know that these pointshave to be understood. The Father tells you day and night: Children, I tell you the deepest points of all. This study will continue for as long as the Father is here. Then, the study will come to an end. No one, apart from you, knows these things. You too are numberwise and BapDada knows this. So many fall and there are so many difficulties. It isn’t that everyone can stay constantly pure. Because you don’t stay pure, there has to be punishment. Only the beads of the rosary pass with honours. Then the subjects too are created. These matters have to be understood very well. When you explain to others, they are not able to understand; it takes them time. You are not able to explain as much as the Father explains. Only the Father knows about the reports etc. that come: So-and-so has fallen into vice; this happened. No names can be mentioned. If Baba were to mention any names, no one would like to speak to that person. Everyone would then look at that person with a vision of dislike and he would lose his place in everyone’s heart. All the income he had earned would be lost. Only the one who has fallen knows, and the Father knows. These are very incognito matters. You say that you met So-and-so, that you explained to him very well and that he can help in service. However, that is possible when he comes in front of you. For instance, you explain very well to the Governor, but he would not be able to explain to anyone. If he were to explain to anyone, no one would believe him. Only those who are to understand will understand. He would not be able to explain to others. You children explain that this is a jungle of thorns and that we are making it into an auspicious place. They speak of benevolent God Vishnu. All of those verses belong to the path of devotion. It is auspicious when it is the kingdom of Vishnu. They show the incarnation of Vishnu. Baba has seen everything. He is experienced. He knows all of those religions very well. The one whose body the Father enters has to have a personality. This is why He says: I enter him at the end of his many births when he has experienced everything very well here; it is then that I enter him. He too is an ordinary human being. Personality doesn’t mean that he should be a king or a member of a royal family; no. This one has a lot of experience. I enter this one’s chariot at the end of his many births. You have to explain that a kingdom is being established and that a rosary is being created. How this kingdom is being established, how some become kings or queens and how others become something else are all matters that no one can understand in a day. Only the unlimited Father gives you the unlimited inheritance. God comes and explains to you, but nevertheless, hardly any become pure. It takes time to understand this. Souls experience so much punishment. Even after experiencing punishment, some become subjects. The Father explains: Children, you have to become very sweet. You mustn’t cause anyone sorrow. The Father comes to show you all the path to happiness and to liberate everyone from sorrow. Therefore, how could He cause anyone sorrow? Only you children know all of these things. People outside are hardly able to understand anything. You have to break your attachment away from all your relatives etc. You have to stay at home, but only for the sake of it. It is in your intellects that this whole world is to be destroyed. However, no one has this thought. Special, beloved children understand this, and they too continue to make effort to study. Many still fail. There is a lot of spinning of Maya. She too is very strong. However, you cannot explain these things to anyone else. People come to you and want to understand what happens here and why there are so many reports. Those people (Government Ministers) keep changing and so you have to sit and explain to each one. Then they say that this is a very good organization. The things to do with establishing the kingdom are very deep and entertaining. You children have found the unlimited Father and so you should have so much happiness. We are becoming the masters of the world, deities, and so we surely need to have divine virtues in us. Your aim and objective is in front of you. They are the masters of the new world. Only you understand this. We are studying and the unlimited Father, who is knowledgefull, is teaching us in order to take us to the land of immortality, that is, to heaven. We are receiving this knowledge. Only those who claimed the kingdom in the previous cycle will come. You are establishing your kingdom exactly as you did in the previous cycle. This rosary is being created, numberwise. In a school, too, those who study well receive a scholarship. Those are limited matters whereas you are being told about unlimited matters. You become the Father’s helpers, and you are therefore the ones who claim a high status. In fact, you have to help yourselves. You have to become pure. You were satopradhan and you definitely have to become that again. You have to remember the Father. You can remember the Father while standing, sitting and moving around. You have to remember with great interest the Father who is making you into the masters of the world. However, Maya doesn’t leave you alone. There are many types of report written: Baba, I have many sinful thoughts of Maya. The Father says: This is a battlefield. You have to conquer the five vices. You understand that you become satopradhan by remembering the Father. The Father comes and explains to you. None of those on the path of devotion know this. This is a study. The Father asks: How will you become pure? You were pure and you have to become that again. Deities are pure. You children know that you are students and are studying. In the future, you will go into the sun-dynasty kingdom. You have to make very good effort for that. Everything depends on your marks. By failing on the battlefield, you go into the moon dynasty. Hearing the name “battlefield”, those people have then shown a bow and arrow etc. Did they physically fight there that they used bows and arrows? There wasn’t anything like that. Previously, they used to fight with bows and arrows. There are the signs of that even now. Some people are very skilful in shooting arrows. There is no question of a war etc. in this knowledge. You know that Shiv Baba alone is the Ocean of Knowledge, the One from whom you receive that status. The Father now says: You have to break all your attachment away from all your relations of bodies, including your own body. All of this is old. The new world was the golden-aged Bharat. Its name was so famous. Who taught the ancient yoga and when? No one can know this until He Himself comes and explains. This is something new. Whatever has happened every cycle will repeat. There cannot be any difference in that. The Father says: Now, by becoming pure in this final birth, you won’t have to become impure for 21 births. The Father explains so well but, in spite of that, not everyone studies with the same attention. There is the difference of day and night. Some come to study, study a little and then disappear. Those who understand very well also share their experience of how they came and how they then made a promise to stay pure. The Father says: If, after making a promise of purity, you become impure, even once, the income you had earned is lost. Your conscience will then continue to bite you. You won’t be able to tell anyone: Remember the Father. The main thing they ask is about vice. You children have to study this study regularly. The Father says: I tell you new things. You are students and God is teaching you. You are students of God. You mustn’t miss even one day of such an elevated study. If you miss hearing the murli for even one day, you get an absent mark. Even very good maharathis miss the murli. They think they know everything and what does it matter if they don’t hear a murli? Ah! you will get an absent mark and you will then fail. The Father Himself says: Every day I tell you such good points that they will be very useful if you explain them at the right time. If you haven’t heard them, how could you use them? You have to drink this nectar for as long as you live. You have to imbibe these teachings. You must never be absent. You can take a murli from anyone and study it. You must not have your own arrogance. Oh! God, the Father, is teaching you and so you mustn’t miss that for even a day. Such points emerge every day that the forehead (intellect) of you or anyone opens up. You need time to understand what a soul is, what the Supreme Soul is and how the part continues. At the end, you will just remember: Consider yourself to be a soul and remember the Father. However, at the moment, you have to explain this. The stage of the end is that you will go home while in remembrance of the Father. Only by having remembrance will you become pure. You can understand for yourself how pure you have become. Those who are impure would definitely receive less power. Only the main eight jewels pass with honours; they don’t experience any punishment at all. These are very subtle matters. This study is so elevated. You would not have thought or dreamt that you could become deities. You become multimillion times fortunate by remembering the Father. In front of this, those businesses etc. are of no use at all. Nothing is going to be useful. Nevertheless, you have to do everything. You must never think that you are giving to Shiv Baba. Ah! you are becoming multimillionaires. If you have the thought that you are giving, the strength of that is reduced. People donate and perform charity in the name of God in order to receive something. That is not giving. God is the Bestower. He gives you so much in your next birth. This is also fixed in the drama. On the path of devotion, they receive temporary happiness whereas you receive the inheritance of unlimited happiness from the unlimited Father. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. You have to drink this nectar and imbibe these teachings for as long as you live. God is teaching you. Therefore, you mustn’t miss the murli for even a day.
  2. In order to accumulate an income of multimillions, while doing everything and living at home, for the sake of it and doing all your work, you have to stay in remembrance of the Father.
Blessing: May you be karmateet, like the Father and stay free from any selfish motives in both your deeds and your relationships.
The service of you children is to free everyone. So, while freeing others, do not tie yourself in any bondage. When you become free from the limited consciousness of “mine”, you will then be able to experience the avyakt stage. The children who are free from any selfish motives in both lokik and alokik lives, in their deeds and relationships are able to experience the karmateet stage like that of the Father. So, check: To what extent have you become detached from any bondage of karma? Are you free from any influence of a wasteful nature or sanskars?
Slogan: Those who are easy going and easy natured are easy yogis, the ones loved by the Innocent Lord.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 27 JUNE 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 27 June 2019

To Read Murli 26 June 2019 :- Click Here
27-06-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – विश्व का मालिक बनाने वाले बाप को बड़ी रूचि से याद करो, याद से ही तुम सतोप्रधान बनेंगे”
प्रश्नः- किस एक बात पर पूरा ध्यान हो तो बुद्धि के कपाट खुल जायेंगे?
उत्तर:- पढ़ाई पर। भगवान् पढ़ाते हैं इसलिये कभी भी पढ़ाई मिस नहीं होनी चाहिए। जहाँ तक जीना है, वहाँ तक अमृत पीना है। पढ़ाई में अटेन्शन देना है, अबसेन्ट नहीं होना है। यहाँ-वहाँ से भी ढूँढकर मुरली जरूर पढ़नी है। मुरली में रोज़ नई-नई प्वाइंट्स निकलती रहती हैं, जिससे तुम्हारे कपाट ही खुल जायेंगे।

ओम् शान्ति। शिव भगवानुवाच सालिग्रामों प्रति। यह तो सारे कल्प में एक ही बार होता है, यह भी तुम जानते हो और कोई भी जान न सके। मनुष्य इस रचयिता और रचना के आदि, मध्य, अन्त को बिल्कुल ही नहीं जानते। तुम बच्चे जानते हो कि स्थापना में विघ्न तो पड़ने ही हैं, इसको कहा जाता है ज्ञान यज्ञ। बाप समझाते हैं इस पुरानी दुनिया में तुम जो कुछ देखते हो वह सब स्वाहा हो जाना है। फिर उसमें ममत्व नहीं रखना चाहिए। बाप आकर पढ़ाते हैं नई दुनिया के लिए। यह है पुरूषोत्तम संगमयुग। यह है विशश और वाइसलेस का संगम, जबकि चेंज होनी है। नई दुनिया को कहा जाता है वाइसलेस वर्ल्ड। आदि सनातन देवी-देवता धर्म ही था। यह तो बच्चे जानते हैं प्वाइंट्स समझने की हैं। बाप रात-दिन कहते रहते हैं – बच्चे, तुमको गुह्य ते गुह्य बातें सुनाता हूँ। जहाँ तक बाप है पढ़ाई चलनी ही है। फिर पढ़ाई भी बन्द हो जायेगी। इन बातों को तुम्हारे सिवाए कोई भी नहीं जानते। तुम्हारे में भी नम्बरवार हैं जो फिर बापदादा ही जानते हैं। कितने गिरते हैं, कितनी तकल़ीफ होती है। ऐसे नहीं सदैव सभी पवित्र रह सकते हैं। पवित्र नहीं रहते तो फिर सजायें खानी पड़ती हैं। माला के दाने ही पास विद् ऑनर्स होते हैं। फिर प्रजा भी बनती है। यह बहुत समझने की बातें है। तुम कोई को भी समझाओ तो वह समझ थोड़ेही सकते हैं। टाइम लगता है। सो भी जितना बाप समझा सकते हैं, उतना तुम नहीं। रिपोर्टस आदि जो आती हैं, उनको बाप ही जानते हैं – फलाना विकार में गिरा, यह हुआ…….। नाम तो नहीं बता सकते। नाम बतायें तो फिर उनसे कोई बात करना भी पसन्द नहीं करेंगे। सब ऩफरत की दृष्टि से देखेंगे, दिल से उतर जायेंगे। सारी की कमाई चट हो जाती है। यह तो जिसने धक्का खाया वह जाने या बाप जाने। यह बड़ी गुप्त बातें हैं।

तुम कहते हो फलाना मिला, उनको बहुत अच्छा समझाया, वह सेवा में मदद कर सकते हैं। परन्तु वह भी जब सम्मुख हो ना। समझो गवर्नर को तुम अच्छी तरह समझाते हो परन्तु वह थोड़ेही किसको समझा सकेंगे। कोई को समझायेंगे तो मानेंगे नहीं। जिसको समझने का होगा वही समझेगा। दूसरे को थोड़ेही समझा सकेंगे। तुम बच्चे समझाते हो कि यह तो कांटों का जंगल है, इसको हम मंगल बनाते हैं। मंगलम् भगवान् विष्णु कहते हैं ना। यह श्लोक आदि सब भक्ति मार्ग के हैं। मंगल तब होता है जब विष्णु का राज्य होता है। विष्णु अवतरण भी दिखाते हैं। बाबा ने सब कुछ देखा हुआ है। अनुभवी है ना। सभी धर्म वालों को अच्छी तरह जानते हैं। बाप जिस तन में आयेंगे तो उसकी पर्सनैलिटी भी चाहिये ना। तब कहते हैं बहुत जन्मों के अन्त में, जबकि यहाँ का बड़ा अनुभवी होता है, तब मैं इनमें प्रवेश करता हूँ। वह भी साधारण, पर्सनैलिटी का यह मतलब नहीं कि राजा रजवाड़ा हो। नहीं, इनको तो बहुत अनुभव है। इनके रथ में आता हूँ बहुत जन्मों के अन्त में।

तुमको समझाना पड़े यह राजधानी स्थापन होती है। माला बनती है। यह राजधानी कैसे स्थापन हो रही है, कोई राजा-रानी, कोई क्या बनते हैं। यह सब बातें एक ही दिन में तो कोई समझ नहीं सकता। बेहद का बाप ही बेहद का वर्सा देते हैं। भगवान् आकर समझाते हैं सो भी मुश्किल थोड़े पवित्र बनते हैं। यह भी समझने में टाइम चाहिए। कितनी सजायें खाते हैं। सजायें खाकर भी प्रजा बनते हैं। बाप समझाते हैं – बच्चे, तुम्हें बहुत-बहुत मीठा भी बनना है। कोई को दु:ख नहीं देना है। बाप आते ही हैं सबको सुख का रास्ता बताने, दु:ख से छुड़ाने। तो फिर खुद किसको कैसे दु:ख देंगे। यह सब बातें तुम बच्चे ही जानते हो। बाहर वाले बड़ा मुश्किल समझते हैं।

जो भी सम्बन्धी आदि हैं, उन सबसे ममत्व तोड़ देना है। घर में रहना है परन्तु निमित्त मात्र। यह तो बुद्धि में है कि यह सारी दुनिया खत्म हो जानी है। परन्तु यह ख्यालात भी किसको रहता नहीं। जो अनन्य बच्चे हैं वह समझते हैं, वह भी अभी सीखने का पुरूषार्थ करते रहते हैं। बहुत फेल भी हो पड़ते हैं। माया की चकरी बहुत चलती है। वह भी बड़ी बलवान है। परन्तु यह बातें और कोई को थोड़ेही समझा सकते। तुम्हारे पास आते हैं, समझना चाहते हैं – यहाँ क्या होता है, इतनी रिपोर्टस आदि क्यों आती है? अब इन लोगों की तो बदली होती रहती है तो फिर एक-एक को बैठ समझाना पड़े। फिर कहते यह तो बड़ी अच्छी संस्था है। राजधानी के स्थापना की बातें बड़ी गुह्य गोपनीय हैं। बेहद का बाप बच्चों को मिला है तो कितना हर्षित होना चाहिए। हम विश्व के मालिक देवता बनते हैं तो हमारे में दैवी गुण भी जरूर चाहिए। एम ऑब्जेक्ट तो सामने खड़ी है। यह है नई दुनिया के मालिक। यह तुम ही समझते हो। हम पढ़ते हैं, बेहद का बाप जो नॉलेजफुल है वह हमको पढ़ाते हैं, अमरपुरी अथवा हेविन में ले जाने के लिए हमको यह नॉलेज मिलती है। आयेंगे वही, जिन्होंने कल्प-कल्प राज्य लिया है। कल्प पहले मुआफिक हम अपनी राजधानी स्थापन कर रहे हैं। यह माला बन रही है, नम्बरवार। जैसे स्कूल में भी जो अच्छा पढ़ते हैं उनको स्कॉलरशिप मिलती है ना। वह हैं हद की बातें, तुमको मिलती हैं बेहद की बातें। जो तुम बाप के मददगार बनते हो, वही ऊंच पद पाते हो। वास्तव में तो मदद अपने को ही करनी है। पवित्र बनना है, सतोप्रधान थे फिर से बनना है जरूर। बाप को याद करना है। उठते, बैठते, चलते बाप को याद कर सकते हो। जो बाप हमको विश्व का मालिक बनाते हैं, उनको बहुत रूचि से याद करना है। परन्तु माया छोड़ती नहीं है। अनेक प्रकार की किस्म-किस्म की रिपोर्टस लिखते हैं – बाबा, हमको माया के विकल्प बहुत आते हैं। बाप कहते हैं युद्ध का मैदान है ना। 5 विकारों पर जीत पानी है। बाप को याद करने से तुम भी समझते हो हम सतोप्रधान बनते हैं। बाप आकर समझाते हैं, भक्ति मार्ग वाले कोई भी जानते नहीं। यह तो पढ़ाई है। बाप कहते हैं तुम पावन कैसे बनेंगे! तुम पावन थे, फिर बनना है। देवता पावन हैं ना। बच्चे जानते हैं हम स्टूडेन्ट पढ़ रहे हैं। भविष्य में फिर सूर्यवंशी राज्य में आयेंगे। उसके लिए पुरूषार्थ भी अच्छी रीति करना है। सारा मार्क्स के ऊपर मदार है। युद्ध के मैदान में फेल होने से चन्द्रवंशी में चले जाते हैं। उन्होंने फिर युद्ध का नाम सुन तीर-कमान आदि दे दिये हैं। क्या वहाँ बाहुबल की लड़ाई थी, जो तीर-कमान आदि चलाये! ऐसी कोई बात है नहीं। आगे बाणों की लड़ाई चलती थी। इस समय तक भी निशानियाँ हैं। कोई-कोई चलाने में बड़े होशियार होते हैं। अब इस ज्ञान में लड़ाई आदि की कोई बात नहीं है।

तुम जानते हो शिवबाबा ही ज्ञान का सागर है, जिनसे हम यह पद पाते हैं। अब बाप कहते हैं देह सहित देह के सभी सम्बन्धों से ममत्व तोड़ना है। यह सब पुराना है। नई दुनिया गोल्डन एजड भारत था। कितना नाम मशहूर था। प्राचीन योग कब और किसने सिखाया? यह किसको पता नहीं। जब तक खुद न आकर समझायें। यह है नई चीज़। कल्प-कल्प जो होता आया है, वही फिर रिपीट होगा। उसमें फर्क नहीं पड़ सकता है। बाप कहते हैं अब यह अन्तिम जन्म पवित्र रहने से फिर 21 जन्म तुमको कभी अपवित्र नहीं होना है। बाप कितना अच्छी रीति समझाते हैं फिर भी सब एकरस थोड़ेही पढ़ते हैं। रात-दिन का फ़र्क है। आते हैं पढ़ने लिए फिर थोड़ा पढ़कर गुम हो जाते हैं। जो अच्छी रीति समझते हैं वह अपना अनुभव भी सुनाते हैं – कैसे हम आये, फिर कैसे हमने पवित्रता की प्रतिज्ञा की। बाप कहते हैं पवित्रता की प्रतिज्ञा कर फिर एक बार भी पतित बना तो की कमाई चट हो जायेगी। फिर वह अन्दर में खाता रहेगा। किसको भी कह नहीं सकेंगे कि बाप को याद करो। मूल बात तो विकार के लिए ही पूछते हैं। तुम बच्चों को यह पढ़ाई रेग्युलर पढ़नी है। बाप कहते हैं हम तुमको नई-नई बातें सुनाता हूँ। तुम हो स्टूडेन्ट, तुमको भगवान् पढ़ाते हैं! भगवान् के तुम स्टूडेन्ट हो। ऐसी ऊंच ते ऊंच पढ़ाई को तो एक दिन भी मिस नहीं करना चाहिए। एक दिन भी मुरली न सुनी तो फिर अबसेन्ट पड़ जाती है। अच्छे-अच्छे महारथी भी मुरली मिस कर देते हैं। वह समझते हैं हम तो सब कुछ जानते हैं, मुरली नहीं पढ़ी तो क्या हुआ! अरे, अबसेन्ट पड़ जायेगी, नापास हो जायेंगे। बाप खुद कहते हैं रोज़ ऐसी अच्छी-अच्छी प्वाइंट्स सुनाता हूँ जो समय पर समझाने में बहुत काम आयेंगी। नहीं सुनेंगे तो फिर कैसे काम में लायेंगे। जब तक जीना है अमृत पीना है, शिक्षा को धारण करना है। अबसेन्ट तो कभी भी नहीं होना चाहिए। यहाँ-वहाँ से ढूँढकर, कोई से लेकर भी मुरली पढ़नी चाहिए। अपना घमण्ड नहीं होना चाहिए। अरे, भगवान् बाप पढ़ाते हैं, उसमें तो एक दिन भी मिस नहीं होना चाहिए। ऐसी-ऐसी प्वाइंट्स निकलती हैं जो तुम्हारा वा किसी का भी कपाट खुल सकता है। आत्मा क्या है, परमात्मा क्या है, कैसे पार्ट चलता है, इसे समझने में टाइम चाहिए। पिछाड़ी में सिर्फ यही याद रहेगा कि अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। परन्तु अभी समझाना पड़ता है। पिछाड़ी की यही अवस्था है, बाप को याद करते-करते चले जाना है। याद से ही तुम पवित्र बनते हो। कितना बने हो सो तो तुम समझ सकते हो। इमप्योर को बल जरूर कम मिलेगा। मुख्य 8 रत्न ही हैं जो पास विद् ऑनर हो जाते हैं। वह कुछ भी सजा नहीं खाते हैं। यह बड़ी महीन बातें हैं। कितनी ऊंची पढ़ाई है। स्वप्न में भी नहीं होगा कि हम देवता बन सकते हैं। बाप को याद करने से ही तुम पद्मापद्म भाग्यशाली बनते हो। इसके सामने तो वह धन्धा आदि कुछ भी काम का नहीं है। कोई भी चीज़ काम आने वाली नहीं है। फिर भी करना तो पड़ता ही है। यह कभी भी ख्याल नहीं आना चाहिए कि हम शिवबाबा को देते हैं। अरे, तुम तो पद्मापद्मपति बनते हो। देने का ख्याल आया तो ताकत कम हो जाती है। मनुष्य ईश्वर अर्थ दान-पुण्य करते हैं, लेने के लिए। वह देना थोड़ेही हुआ। भगवान् तो दाता है ना। दूसरे जन्म में कितना देते हैं। यह भी ड्रामा में नूँध है। भक्ति मार्ग में है अल्पकाल का सुख, तुम बेहद के बाप से बेहद सुख का वर्सा पाते हो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) जब तक जीना है, अमृत पीना है, शिक्षाओं को धारण करना है। भगवान् पढ़ाते हैं, इसलिए एक दिन भी मुरली मिस नहीं करनी है।

2) पद्मों की कमाई जमा करने के लिए निमित्त मात्र घर में रहते, काम-काज करते एक बाप की याद में रहना है।

वरदान:- कर्म और संबंध दोनों में स्वार्थ भाव से मुक्त रहने वाले बाप समान कर्मातीत भव
आप बच्चों की सेवा है सबको मुक्त बनाने की। तो औरों को मुक्त बनाते स्वयं को बंधन में बांध नहीं देना। जब हद के मेरे-मेरे से मुक्त होंगे तब अव्यक्त स्थिति का अनुभव कर सकेंगे। जो बच्चे लौकिक और अलौकिक, कर्म और संबंध दोनों में स्वार्थ भाव से मुक्त हैं वही बाप समान कर्मातीत स्थिति का अनुभव कर सकते हैं। तो चेक करो कहाँ तक कर्मो के बंधन से न्यारे बने हैं? व्यर्थ स्वभाव-संस्कार के वश होने से मुक्त बने हैं?
स्लोगन:- जो सरलचित और सहज स्वभाव वाले हैं वही सहजयोगी, भोलानाथ के प्रिय हैं।

TODAY MURLI 27 JUNE 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 27 June 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 26 June 2018 :- Click Here

27/06/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to renounce the entire old world, including your body, because you have now found the true path through the Guide.
Question: According to God’s plan, what task is filled with benefit?
Answer: The task of great destruction, through which the entire unlimited old world will be destroyed, is filled with benefit. Human beings consider this task to be most harmful, but the Father says: The entire world will be sacrificed in the sacrificial fire of knowledge that I have created and then the new world will come.
Song: Salutations to Shiva!

Om shanti. You children heard the song. Whose praise was this? That of the Mother and Father, that is, of the Supreme Father, the Supreme Soul. He is God, the Highest on High. He is God , the Father, the Highest on High. God is called the Father. Whose Father? The Father of all the human beings of the world. He is the unlimited Father. Since He is called the Father, He is also the Creator. He is the Creator of the human world. In fact, all human beings have two fathers: one worldly and the other the Father from beyond the world of souls. A worldly father creates the physical body for a soul. Souls are incorporeal. The place where souls reside is the incorporeal world, which is also called the world of brahm. Here, all souls have received bodies in order to play their part s. The secrets of the drama have to be understood very clearly. You know that the praise of God, the Father, is unique. They also sing: O h God the Father! He is the Seed of the human world. This tree is inverted. The Father, the Seed, is up above. When they say “Oh God the Father!” their vision goes upwards. The Father of all souls is the one Supreme Father, the Supreme Soul. His praise is the highest of all, but human beings do not understand anything at all. The Father of all souls is the incorporeal Father, and the corporeal father is Prajapita Brahma, who is also called Adi Dev, Mahavir and Adam. It is through him that the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, creates the human world. A father can never be infinite. A worldly father creates a creation; he adopts a wife and they create children. Therefore, he is called a father. A father can never be omnipresent or infinite. Children receive an inheritance from their father. Therefore, the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, is the unlimited Father of all souls. This has to be understood: God is one ; the Father is one. Souls have now forgotten their Father. By forgetting the Father , all human beings have become orphans. Because of not knowing the Father , they remember Paradise, that is, His creation, and the brothers and sisters. Having forgotten the Father they fight and quarrel among themselves. They have become orphans. The inheritance can only be received from that Father. Brahma, Vishnu and Shankar are also His creation. Brahma, Vishnu and Shankar are residents of the subtle region. The supreme region where the Supreme Father, the Supreme soul, resides is above the subtle region. We souls are also residents of that place. The soul says: That incorporeal world is the sweet God f atherly home. You have to know these worlds. There are three worlds: the incorporeal world, the subtle region and the corporeal world. The Father is the Highest on High. The Supreme Father, the Supreme Soul, is Karankaravanhar, the Creator and the Director. He first createsBrahma, Vishnu and Shankar. Then, through Brahma, He adopts the mouth-born creation, the Brahma Kumars and Kumaris. Adi Dev is shown in the Dilwala Temple. Your memorial also shows you sitting down and doing tapasya. That is the memorial of those who changed Bharat from impure to pure. There is only the one Bridegroom of all the brides. Jagadamba and Jagadpita are definitely sitting in the temple and doing the tapasya of Raja Yoga. God speaks: I sit and teach you Raja Yoga through the body of Brahma. Jagadamba is also there. There is Prajapita Brahma along with the Brahma Kumars and Kumaris. There are also the half-kumaris. Those who look after the temple don’t know who the kumaris or the half-kumaris are. Surely, they must be the children of Jagadamba and Jagadpita. He sits and teaches them all Raja Yoga. He also explains how He first creates Brahma. I enter an ordinary body at his stage of retirement. Therefore, this one is Adi Dev. Whose child is Prajapita Brahma, the one who is called Mahavir? Baba sits here and explains: I enter the body of this Brahma. My name is Shiva. It is not that Baba doesn’t come at all. It has been remembered that God comes at the time when there is defamation of religion. At this time the world is impure. You have to understand how the world becomes pure. Baba explains: I am the One who grants salvation. The River Ganges cannot be called the Bestower of Liberation or Salvation. It is the Supreme Father, the Supreme Soul, who is the Purifier. That Heavenly God, the Father, establishes heaven Himself. Since we are His children, why should we not receive our inheritance of heaven from God, the Father? This is something that has to be understood. The memorial of this is accurately portrayed in the Dilwala Temple. You are sitting down in tapasya and above is the memorial of heaven. The deities existed in Bharat. The Father definitely comes to purify the impure. He says: I come at the confluence of every cycle. The confluence age is the auspicious age. It is at the end of the iron age that I come and establish the golden age. The Father sits here and explains that He is beyond birth and death. Human beings are not God. Human beings take 84 births. You children know that this is the land of death. The golden age is called the land of immortality. This is the very depths of hell, where all human beings continue to bite one another. Bharat was pure and the deities used to rule there. The Father comes into the impure world and an impure body. Surely, the Father would have come in the body of the last birth of the one who came at the beginning of the golden age. It has been remembered that souls and the Supreme Soul have been separated for a long period of time. There is a full calculation of this. In the beginning, there were those who belonged to the original, eternal deity religion. They are the ones who take 84 births. Those of Islam and the Buddhists cannot take 84 births. Bharat is the birthplace of the Supreme Father, the Supreme Soul. Of all the lands, Bharat is the highest land. However, it is now the iron age. Baba has explained that this is the imperishable world drama which can never be destroyed. The history and geography of the world repeat. Those who understand this knowledge and spin the discus of self-realisation are the ones who become the rulers of the globe. There were no other religions when there was the kingdom of the deities in Bharat. There was only the new kingdom of the deities in new Bharat. It was the kingdom of the World Almighty Authority. No one could conquer them. Shri Lakshmi and Narayan were the masters of the whole world. The One who made them into the masters of the world must surely have been the Creator of the world. He is the Supreme Father, the Supreme Soul, God the Father. At this time there is no name or trace of the deities. There are simply images of the deities, but no one knows their occupation. At this time the G overnment has no power left. They don’t know their religion. It is said, “Religion is might”. The Father establishes religion. He is called the Almighty Authority. Therefore, God, the Father , is the Father and, because He is knowledge-full, He is also called the Teacher and, because He is the Purifier, He is also the Satguru. He doesn’t have a father of His own. He is the Supreme Father, the Supreme Teacher because He is k nowledge-full. No human being has the knowledge of the beginning, the middle or the end of the drama. There is only the One who grants salvation to all. He does not have a guru. He is the unlimited Father, the unlimited Teacher and the unlimited Satguru. Baba explains that Bharat has now become poverty-stricken and impure. It is Maya, Ravan, that makes it impure. Bharat is now the devilish kingdom. In the golden age, it used to be the divine kingdom; it was called heaven. Bharat is the highest-on-high, imperishable land. It is the birthplace of the imperishable Father. The land of Bharat will never be destroyed; all others will be destroyed. Therefore, the Father has the part in this drama of purifying the impure world and of creating the original, eternal religion. He inspires the destruction of innumerable religions through Shankar. This destruction is not harmful. This is the sacrificial fire of the knowledge of Rudra, from which the flames of destruction are ignited. The Father says: I, the incorporeal One, am the Creator of the Gita, the Supreme Father, the Supreme Soul. People have put Shri Krishna’s name. God speaks: I teach you Raja Yoga. You are Raja Yogis. You have to renounce the entire old world, everything, including your bodies. I become the Guide and take everyone back. The Father is the One who liberates everyone from sorrow. For half a cycle there is devotion, the kingdom of Ravan, and for half a cycle it is the kingdom of Rama. It is the Father, not a human being, who sits here and explains this. The Father is now talking to you souls. He explains: Children, this is your household path. When there was purity in Bharat, there was also peaceand prosperity. Now there is no purity and so there is no peace or prosperity either. All are diseased and unhappy. Bharat is now the land of sorrow. Bharat was once the land of happiness. Now the Father says: Children, have yoga with Me. First, you should have the faith that you are souls and not the Supreme Soul. God is not omnipresent as the sannyasis say. The Supreme Soul’s praise is extremely great. All of you were also pure in the golden age and you have now become impure. There are the castes: Brahmins, deities, warriors, merchants and shudras. You are Brahmins, children of Prajapita Brahma. Who gave birth to Adi Dev, Brahma? The Father says: I entered this one and named him Brahma. I have adopted this one. This one is ‘The Lucky Chariot’. It is through this one that I enable you to gain victory over Maya. However, there is no other battlefield. You are non-violent. There are two types of violence: one is the violence of the sword of lust and the other is the violence of wounding or killing. Baba says: Lust is the greatest enemy. Through it you have received sorrow from its beginning through the middle to the end. The kingdom of Ravan begins in the copper age, when the night of Brahma begins. This confluence age is the most benevolent age. Later, you begin to descend – from deities to warriors, from warriors to merchants and you then have to go into the shudra clan. Those who belonged to the Brahmin religion will again become Brahma Kumars and Brahma Kumaris. The Father explains: Bharat was the land of liberation-in-life and it is now the land of bondage-in-life. Baba comes and grants liberation-in-life in a second. Bharat receives the inheritance of unlimited happiness from the Father every cycle. No human being can give another human being the inheritance of liberation or liberation-in-life. There is only the one Satguru who takes you beyond. You are becoming the masters of the world through the Father, the Creator of the world. The Father says: I am altruistic. I make you into the masters of the world through Brahma and I then go and sit in retirement. It has been remembered that everyone remembers God at the time of suffering and that no one remembers Him at the time of happiness. All the devotees now remember one God. They then say that He is omnipresent, and so how can they be devotees? That knowledge is wrong! The Father creates the mouth-born creation. You are the mouth-born children of Prajapita Brahma. Those brahmins take birth through sin. They are physical guides whereas you are spiritual guides. The Father now says to all souls: Remember Me, your Father. The Father must never be forgotten. How would you receive your inheritance if you forget the Father? The Father says: Remember Me alone. All the rest are creation; you cannot receive the inheritance from them. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Understand the significance of the drama very clearly and play your part accordingly. You now belong to the Father, the Lord and Master. Therefore, you must never fight or quarrel among yourselves.
  2. The Father becomes the Guide to take everyone back home. Now forget everything, including your body, and only remember the one Father.
Blessing: May you be a courageous soul who makes Maya lose her courage with your thoughts of courage.
When you children constantly have one Strength and one Support and have thoughts of courage that you have to be victorious, when you children have courage, they always experience the Father’s help. With courage, they become worthy of receiving help. Maya loses her courage in front of thoughts of courage. Those who have weak thoughts and wonder whether it will happen or not, whether they will be able to do it or not – such thoughts invoke Maya. Therefore, always have thoughts filled with zeal, enthusiasm and courage and you will be said to be a courageous soul.
Slogan: To sit on the throne of humility and to wear the crown of responsibility is greatness.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 27 JUNE 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 27 June 2018

To Read Murli 26 June 2018 :- Click Here
27-06-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हें देह सहित इस सारी पुरानी दुनिया का त्याग करना है, क्योंकि तुम्हें गाइड द्वारा सच्चा रास्ता मिल गया है”
प्रश्नः- ईश्वरीय प्लैन के अनुसार किस कर्त्तव्य में कल्याण समाया हुआ है?
उत्तर:- यह महाविनाश का जो कर्त्तव्य है, जिसमें सारी बेहद की पुरानी दुनिया खत्म होनी है, इसमें कल्याण समाया हुआ है। मनुष्य समझते यह बहुत बड़ा अकल्याण है, लेकिन बाप कहते मैंने यह ज्ञान यज्ञ जो रचा है, इसमें सारी पुरानी दुनिया की आहुति पड़ेगी, फिर नई दुनिया आयेगी।
गीत:- ओम् नमो शिवाए ….

ओम् शान्ति। बच्चों ने गीत सुना। यह महिमा किसकी थी? तुम मात-पिता अर्थात् परमपिता परमात्मा की महिमा। ऊंच ते ऊंच भगवान, वही है ऊंच ते ऊंच गॉड फादर। ईश्वर को फादर कहा जाता है। किसका फादर? सारी मनुष्य सृष्टि का फादर। वह है बेहद का बाप। जब उनको बाप कहा जाता है तो रचयिता भी है। मनुष्य सृष्टि का रचयिता है। वास्तव में सभी मनुष्य मात्र के दो बाप हैं – एक लौकिक, दूसरा पारलौकिक हुआ आत्माओं का बाप। आत्मा को जिस्म देने वाला है लौकिक बाप। आत्मा तो निराकार ही है। आत्माओं का निवास स्थान निराकारी दुनिया में है, जिसको ब्रह्मलोक भी कहा जाता है। यहाँ सभी आत्माओं को यह शरीर मिला हुआ है पार्ट बजाने। ड्रामा के राज़ को भी अच्छी रीति समझना है। तुम जानते हो कि गॉड फादर की महिमा सभी से न्यारी है। गाते भी हैं ओ गाड फादर। मनुष्य सृष्टि का बीज रूप है। यह है उल्टा झाड़। बीज बाप ऊपर में है। जब कहते हैं – ओ गाड फादर, तो ऊपर में नज़र जाती है। सभी आत्माओं का फादर एक परमपिता परमात्मा है। उनकी महिमा है सभी से ऊंची। परन्तु मनुष्य बिल्कुल नहीं जानते हैं। सभी आत्माओं का फादर वह निराकार बाप और फिर साकार बाप प्रजापिता ब्रह्मा, जिसको आदि देव, महावीर, एडम भी कहते हैं। जिस द्वारा निराकार परमपिता परमात्मा मनुष्य सृष्टि रचते हैं। फादर को तो कभी बेअन्त नहीं कहा जा सकता। जैसे लौकिक फादर रचना रचते हैं, स्त्री को एडाप्ट कर फिर उनसे बच्चे पैदा करते हैं, तो उसको फादर कहा जाता है। फादर को कभी सर्वव्यापी वा बेअन्त नहीं कहेंगे। बाप से ही बच्चों को वर्सा मिलता है। तो निराकार परमपिता परमात्मा है सभी आत्माओं का बेहद का बाप। यह समझना है। गॉड इज वन, फादर इज वन। अभी आत्मा अपने फादर को भूल गई है। फादर को भूलने कारण सभी मनुष्य-मात्र आरफन बन गये हैं। फादर को न जानने कारण बहिश्त को यानी रचना को अथवा भाई-बहन को याद करते रहते हैं। फादर को भूल आपस में ही लड़ते-झगड़ते रहते हैं। निधण के बन पड़े हैं। वर्सा मिलता ही है उस बाप से। ब्रह्मा-विष्णु-शंकर भी उनकी रचना हैं। ब्रह्मा-विष्णु-शंकर हैं सूक्ष्मवतनवासी। सूक्ष्मवतन के ऊपर है मूल-वतन, जहाँ परमपिता परमात्मा रहते हैं। हम आत्मा भी वहाँ की रहवासी हैं। आत्मा कहेगी वह है स्वीट गॉड फादरली होम, निराकारी दुनिया। इन वतनों को जानना है। तीन लोक कहते हैं। मूलवतन, सूक्ष्मवतन और स्थूल-वतन। ऊंच ते ऊंच है बाप। करनकरावनहार, क्रियेटर, डायरेक्टर परमपिता परमात्मा है। पहले ब्रह्मा-विष्णु-शंकर को क्रियेट करते हैं। फिर ब्रह्मा द्वारा ब्रह्मा मुखवंशावली ब्रह्माकुमार-कुमारियों को एडाप्ट करते हैं। देलवाड़ा मन्दिर में भी आदि देव दिखाया है। नीचे तपस्या कर रहे हैं। तुम्हारा ही यादगार खड़ा है। जिन्होंने भारत को पतित से पावन बनाया है, उन्हों का यादगार खड़ा है। सभी सजनियों का साजन एक ही है। बरोबर मन्दिर में जगत अम्बा और जगतपिता बैठे हैं। राजयोग की तपस्या कर रहे हैं। भगवानुवाच – मैं ब्रह्मा तन द्वारा बैठ तुमको राजयोग सिखलाता हूँ। जगत अम्बा भी है। प्रजापिता ब्रह्मा भी है और ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ भी हैं। अधर कुमारियाँ भी हैं। मन्दिर वाले खुद नहीं जानते कि कुमारियाँ कौन, अधरकुमारियाँ कौन हैं? जरूर जगत अम्बा, जगत पिता के बच्चे होंगे। उन सबको बैठ राजयोग सिखाते हैं। पहले-पहले ब्रह्मा को कैसे रचते हैं? वह भी बताते हैं। साधारण तन में, वानप्रस्थ अवस्था में प्रवेश करता हूँ। तो यह आदि देव हुआ ना। प्रजापिता ब्रह्मा जिसको महावीर कहते हैं – वह किसका बच्चा है? बाप बैठ समझाते हैं कि मैं इस ब्रह्मा तन में प्रवेश करता हूँ। मेरा नाम है शिव। ऐसे नहीं, बाबा आते ही नहीं है। गाया हुआ है यदा यदाहि…. इस समय यह है ही पतित दुनिया। पावन दुनिया कैसे बनती है – वह समझना चाहिए। बाबा समझाते हैं – मैं ही सद्गति दाता हूँ। गंगा नदी को गति-सद्गति दाता नहीं कह सकते। पतित-पावन परमपिता परमात्मा ही है। वह हेविनली गॉड फादर ही स्वर्ग की स्थापना करते हैं। जबकि उनकी सन्तान हैं तो फिर क्यों नहीं गॉड फादर से स्वर्ग का वर्सा मिलना चाहिए। समझ की बात है ना। देलवाड़ा मन्दिर में भी पूरा यादगार है। नीचे तपस्या में बैठे हैं, ऊपर में स्वर्ग का यादगार है। देवी-देवतायें भारत में ही थे। जरूर बाप आते हैं पतितों को पावन बनाने। कहते हैं – मैं कल्प-कल्प, कल्प के संगमयुगे-युगे आता हूँ। संगमयुग है आस्पीशियस युग। जबकि कलियुग के अन्त में मैं आकर सतयुग की स्थापना करता हूँ। यह बाप बैठ समझाते हैं। वह जन्म-मरण रहित है। मनुष्य को भगवान नहीं कहा जा सकता। मनुष्य तो 84जन्म लेते हैं।

तुम बच्चे जानते हो यह है मृत्युलोक। सतयुग को कहा जाता है अमरलोक। यह है रौरव नर्क। मनुष्यमात्र सब एक दो को काटते रहते हैं। भारत ही पावन था, जिसमें देवी-देवतायें राज्य करते थे। बाप आते ही हैं पतित दुनिया, पतित शरीर में। जरूर जो पहले सतयुग में आये होंगे, उनके ही अन्तिम जन्म के तन में बाप आये होंगे। गाया भी जाता है आत्मा-परमात्मा अलग रहे बहुकाल…पूरा हिसाब हो गया ना। पहले-पहले आदि सनातन देवी-देवता धर्म वाले ही थे। 84 जन्म भी उन्हों के ही हैं। इस्लामी, बौद्धी आदि 84 जन्म नहीं ले सकते हैं। भारत है ही परमपिता परमात्मा का बर्थ प्लेस। सब खण्डों से ऊंच है भारत खण्ड। परन्तु अभी है कलियुग। बाबा ने समझाया है वह है अविनाशी वर्ल्ड ड्रामा। इसका कभी विनाश नहीं होता। वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी रिपीट होती है। जो इस नॉलेज को जान स्वदर्शन चक्रधारी बनते हैं, वो ही चक्रवर्ती राजा बनेंगे। भारत में जब देवी-देवताओं का राज्य था तो और कोई धर्म नहीं था। नये भारत में नई राजधानी देवी-देवताओं की थी। वर्ल्ड आलमाइटी अथॉरिटी का राज्य था। उन पर कोई जीत पा न सके। श्री लक्ष्मी-नारायण सारे विश्व के मालिक थे। उन्हों को विश्व का मालिक बनाने वाला जरूर विश्व का रचयिता ही होगा। वह है परमपिता परमात्मा, गॉड फादर। इस समय देवी-देवताओं का नाम-निशान नहीं है। देवी-देवताओं के सिर्फ चित्र हैं। परन्तु उनके आक्यूपेशन को कोई भी जानते नहीं। इस समय गवर्मेन्ट में भी कोई ताकत नहीं रही है। अपने धर्म का पता नहीं है। कहा जाता है रिलीजन इज माइट। रिलीजन स्थापन करने वाला है बाप। उनको ही सर्वशक्तिमान कहा जाता है। तो गॉड फादर, फादर भी है, फिर उनको नॉलेजफुल कहा जाता है तो टीचर भी है और फिर उनको पतित-पावन कहा जाता है तो सतगुरू भी है। उनका कोई फादर नहीं। वह है सुप्रीम फादर, सुप्रीम टीचर क्योंकि नॉलेजफुल है। और कोई भी मनुष्य ड्रामा के आदि-मध्य-अन्त की नॉलेज को नहीं जानते। सद्गति दाता भी सबका वह एक है। उनका कोई गुरू नहीं। वही बेहद का बाप, बेहद का टीचर और बेहद का सतगुरू है।

बाप समझाते हैं भारत अब कंगाल पतित है। पतित बनाती है माया रावण। अभी भारत आसुरी राजस्थान है। सतयुग में दैवी राजस्थान था, जिसको स्वर्ग, हेविन कहा जाता है। भारत ही ऊंच से ऊंच अविनाशी खण्ड है। अविनाशी बाप का यह बर्थ प्लेस है। भारत खण्ड कभी विनाश को नहीं पायेगा और सब खत्म हो जायेंगे। तो बाप का भी इस ड्रामा में पार्ट है, जो इस पतित सृष्टि को पावन बनाकर आदि सनातन धर्म की स्थापना करते हैं। शंकर द्वारा अनेक धर्मो का विनाश। यह विनाश कोई अकल्याणकारी नहीं है। यह है रुद्र ज्ञान यज्ञ, जिससे विनाश ज्वाला प्रज्जवलित हुई है। बाप कहते हैं गीता का रचयिता मैं निराकार परमपिता परमात्मा हूँ। मनुष्यों ने फिर श्रीकृष्ण का नाम डाल दिया है। भगवानुवाच – मैं तुमको राजयोग सिखलाता हूँ। तुम राजयोगी हो। तुम्हें सारी पुरानी सृष्टि का, देह सहित जो कुछ है सबका त्याग करना है। मैं गाइड बन सबको वापिस ले चलने आया हूँ। बाप ही दु:खों से लिबरेट करते हैं। आधा कल्प है भक्ति अर्थात् रावण राज्य और आधा कल्प है राम राज्य। यह बाप बैठ समझाते हैं। कोई मनुष्य नहीं समझाते। अभी बाप आत्माओं से बात करते हैं। समझाते हैं – बच्चे, तुम्हारा यह है प्रवृत्ति मार्ग। भारत में प्योरिटी थी तो पीस प्रासपर्टी भी थी। अभी प्योरिटी नहीं तो पीस प्रासपर्टी भी नहीं। सब रोगी, दु:खी हैं। अभी भारत दु:खधाम है। भारत ही सुखधाम था। अब बाप कहते हैं – बच्चे, मेरे साथ योग लगाओ। पहले तो निश्चय होना चाहिए कि हम आत्मा हैं, न कि परमात्मा। जैसे सन्यासी कहते हैं ईश्वर सर्वव्यापी है। परमात्मा की तो महिमा बहुत भारी है। तुम भी सतयुग में सब पवित्र थे। अब अपवित्र बन गये हो। ब्राहमण, देवता, क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र – यह वर्ण हैं ना। तुम हो प्रजापिता ब्रह्मा की औलाद ब्राह्मण। अदि देव ब्रह्मा को किसने जन्म दिया? बाप कहते हैं मैंने इसमें प्रवेश कर इनका नाम ब्रह्मा रखा। इनको एडाप्ट किया। यह भागीरथ है। इनके द्वारा मैं तुम्हें माया पर जीत प्राप्त कराता हूँ। बाकी कोई युद्ध आदि का मैदान नहीं है। तुम हो अहिंसक। हिंसा डबल होती है – एक तो काम कटारी की हिंसा, दूसरी फिर एक दो को मारने की हिंसा। बाबा कहते हैं यह काम महाशत्रु है, इनसे तुमने आदि-मध्य-अन्त दु:ख पाया है। रावण राज्य द्वापर से शुरू होता है। जबकि ब्रह्मा की रात शुरू होती है। यह संगमयुग ही सबसे कल्याणकारी है। पीछे तो नीचे उतरते जाते हैं। देवता से क्षत्रिय, क्षत्रिय से वैश्य, शूद्र वर्ण में आना ही है। जो ब्राह्मण धर्म के होंगे वो ही आकर ब्रह्माकुमार, ब्रह्माकुमारियाँ बनेंगे। बाप समझाते हैं – भारत जीवन्मुक्त था, अभी जीवनबन्ध है। बाबा आकर सेकेण्ड में जीवन्मुक्ति देते हैं। बाप से भारत को कल्प-कल्प बेहद सुख का वर्सा मिलता है। मुक्ति-जीवन्मुक्ति का वर्सा मनुष्य, मनुष्य को दे न सके। पार ले जाने वाला एक ही सतगुरू है। तुम विश्व के रचयिता बाप द्वारा विश्व के मालिक बन रहे हो। बाप कहते हैं मैं तो निष्काम हूँ। ब्रह्मा द्वारा तुमको विश्व का मालिक बनाकर मैं वानप्रस्थ में बैठ जाता हूँ। गाया जाता है दु:ख में सिमरण सब करें, सुख में करे न कोई…. अब सब भक्त एक भगवान को याद करते हैं। फिर सर्वव्यापी कह देते हैं, तो भक्त कैसे ठहरे? यह उल्टा ज्ञान है। बाप तो रचते हैं मुख वंशावली। तुम हो प्रजापिता ब्रह्मा की मुखवंशावली। वह ब्राह्मण हैं कुख वंशावली। वे जिस्मानी पण्डे, तुम हो रूहानी पण्डे।

बाप सब आत्माओं को कहते हैं – अब तुम मुझ बाप को याद करो। बाप को थोड़े-ही भूलना चाहिए। बाप को भूला तो वर्सा कैसे मिलेगा। बाप कहते हैं मामेकम् याद करो। बाकी सब हैं रचना, उनसे वर्सा नहीं मिल सकता। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ड्रामा के राज़ को अच्छी रीति जानकर पार्ट बजाना है। अभी हम धणी बाप के बने हैं, कब आपस में लड़ना-झगड़ना नहीं है।

2) बाप गाइड बन सबको लेने आया है, अब देह सहित सब कुछ भूल एक बाप को ही याद करना है।

वरदान:- हिम्मत के संकल्प द्वारा माया को हिम्मतहीन बनाने वाले हिम्मतवान आत्मा भव
जो बच्चे एक बल एक भरोसे में रहते हैं, हिम्मत का संकल्प करते हैं कि हमें विजयी बनना ही है तो हिम्मते बच्चे मददे बाप का सदा अनुभव होता है। हिम्मत से मदद के पात्र बन जाते हैं। हिम्मत के संकल्प के आगे माया हिम्मतहीन बन जाती है। जो कमजोर संकल्प करते कि पता नहीं होगा या नहीं, मैं कर सकूंगा या नहीं, ऐसे संकल्प ही माया का आह्वान करते हैं इसलिए सदा उमंग-उत्साह सम्पन्न हिम्मत के संकल्प करो तब कहेंगे हिम्मतवान आत्मा।
स्लोगन:- निर्माणचित के तख्त पर बैठ, जिम्मेवारी का ताज धारण करना ही श्रेष्ठता है।
Font Resize