27 july ki murli

TODAY MURLI 27 JULY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 27 July 2020

27/07/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, have mercy for yourselves and continue to follow the shrimat that the Father gives you. The Father’s shrimat is: Children, don’t waste time! Act in the right way.
Question: What main dharna do the fortunate children have?
Answer: The fortunate children wake up early in the morning and remember the Father with a lot of love. They have a sweet conversation with Baba. They are never merciless to themselves. They make effort to pass with honours and make themselves worthy of claiming a kingdom.

Om shanti. You children are sitting in front of the Father. You understand that He is your unlimited Father and that He is giving you shrimat for unlimited happiness. It is sung of Him that He is the merciful One and the Liberator. People sing a great deal of praise of Him. The Father says: It is not just a question of praise. It is a father’s duty to give directions to his children. The unlimited Father too gives directions. That Father is the Highest on High. Therefore, the directions He gives would definitely be the highest on high. It is souls who receive directions. It is souls who perform good and bad acts. At this time everyone in the world receives directions from Ravan. You children are now receiving directions from Rama, God. By following Ravan’s directions you became merciless and acted wrongly. The Father gives directions: Do good, right acts. The best act is to have mercy for yourself. You souls know that you were very happy when you were satopradhan and that when you received directions from Ravan, you became tamopradhan. The Father now gives these directions: First, stay in remembrance of the Father! Second, have mercy for yourselves! The Father does not have mercy for you. He simply gives you shrimat for what you have to do. Have mercy for yourselves! Consider yourselves to be souls and remember the Purifier Father and you will become pure! The Father advises you how you can become pure. The Father makes impure ones pure. He gives you shrimat. If you do not follow His directions, you are being merciless to yourself. The Father gives this shrimat: Children, don’t waste your time! Make the lesson firm that each of you is a soul. Carry on with your business for the livelihood of your body. Nevertheless, you do have to make time and find ways for this. While doing your work, your intellects should be focused on the Father, just as a lover and beloved carry on with their work. The two are in love with one another. It is not like that here. You also remembered Him on the path of devotion. Some ask: How can we remember Him? What form should we remember for the soul and the Supreme Soul, because it has been remembered on the path of devotion that the Supreme Soul is beyond name and form. However, it isn’t like that. It is said that a soul is like a star in the centre of the forehead. In that case, why do they ask, “What is a soul?” A soul cannot be seen but is something to be understood. A soul can be understood and the Supreme Soul can also be understood. It is a very subtle thing. It is even more subtle than a firefly. You don’t even know how it leaves a body. There is a soul; one has a vision of that. What if someone does have a vision of a soul? It is as subtle as a star. Consider yourself to be a soul and remember the Father. Just as there are souls, so the Supreme Soul is also a soul. However, God is called the Supreme Soul. He doesn’t enter the cycle of birth and death. That soul is said to be the Supreme because He is beyond birth and death. However, all souls have to become pure and then go back home to the land of liberation. It is also numberwise who have the parts of heroes and heroines. Souls are all numberwise. In a play, some actors receive a high income, whereas others receive a low income. The Lakshmi and Narayan souls are said to be the supreme human souls. Although everyone does become pure, each one plays a numberwise part: some become great kings, some servants and some subjects. You are actors. You know that all of those deities are numberwise. If you make effort well and become elevated souls, you will claim a high status. You have now remembered how you have taken 84 births. You now have to go to the Father. You children have this happiness and also this intoxication. You all say that you will become Narayan from an ordinary human, that you will become the masters of the world. In that case, you have to make effort accordingly. The status you receive is numberwise according to the efforts you make. Everyone has received a part, numberwise. This drama is predestined. The Father is now giving you elevated directions. No matter how, you must remember the Father so that you can be absolved of your sins and you can become satopradhan from tamopradhan. There is a huge burden of sin on your heads. Those sins have to be removed here in whatever way possible. Only then will you souls become pure. It is souls that have become tamopradhan. Therefore, it is the souls that have to become satopradhan. At this time, Bharat is the most insolvent. This play is based on Bharat. Others simply come to establish a religion. At the end, everyone becomes tamopradhan by taking rebirth. You become the masters of heaven. You know that Bharat was a very elevated land. It is now so poor. Everyone helps the poor. Bharat now continues to beg for everything. Earlier, so much grain was exported from this land. Now that it has become poor, it is receiving return service. Whatever was taken is now being given back, on loan. The names “Krishna” and “Christian” sound similar. Christians took Bharat over. Now, according to the drama, they will fight among themselves and you children will receive the butter. It isn’t that Krishna had butter in his mouth; that was just written in the scriptures. The whole world comes into Krishna’s hands. You become the masters of the whole world. You children know that you are becoming the masters of the world. Therefore, you should have so much happiness! You have multimillions at every step. It wasn’t the kingdom of only one Lakshmi and Narayan. There was also their dynasty, was there not? The king, queen and subjects all had multimillions at their feet. There was countless wealth there. No one there committed a sin for money. There was plenty of wealth there. There is a play about Aladdin’s magic lamp. Allah is the One who establishes the first religion, the religion of deities. He gives liberation-in-life in a second. A vision is received in a second. Limitless treasures have been portrayed. In her visions, Meera would be dancing with Krishna. That was the path of devotion. There is nothing of the path of devotion here. You will go to Paradise in a practical way and rule the kingdom as your fortune. On the path of devotion, there are just visions. It is at this time that you children have a vision of your aim and objective. You know that that is what you are to become. Because you children forget this, you are given badges. You have now become the children of the unlimited Father. You should experience so much happiness. Repeatedly make this firm. However, because of opposition from Maya, that happiness flies away. Continue to remember the Father and how Baba is making you into the masters of the world and your intoxication will rise. However, Maya makes you forget. Then, one sin or another is committed. You children remember that you have taken 84 births. No one else takes 84 births. You have to understand that, to the extent you remember the Father, you will accordingly claim a high status. However, you have to make others equal to yourselves and also create subjects. Charity begins at home. When people go on a pilgrimage, they set off by themselves. Then they ask their friends and relatives to accompany them. You should also explain to everyone with love. Not everyone will understand. In the same home, the father would understand and the child wouldn’t. No matter how much some parents tell their children not to attach their hearts to the old world, those children won’t listen to them. They cause so much distress. Those who are saplings and belong here will come and understand. Look how this religion is being established. Other founders of a religion don’t form a sapling. They come down from up above. Their followers also continue to follow them down. That One carries out establishment. Then He purifies everyone and takes them back home. This is why He is called the Satguru and the Liberator. There is only one true Guru. Human beings can never grant anyone salvation. There is only the one Bestower of Salvation for All. He is called the Satguru. He makes Bharat into the land of truth. Ravan then makes it into the land of falsehood. They tell lies about the Father and the deities. That is why the Father says: Hear no evil! This world is now called a brothel. The golden age is called the Temple of Shiva (Shivalaya). Human beings don’t understand anything; they simply continue to follow their own dictates. So much fighting and quarrelling goes on. A son wouldn’t hesitate to beat his mother. A husband wouldn’t hesitate to beat his wife. They continue to kill one another. When a son sees that his father has a lot of wealth and is not giving it to him, he doesn’t hesitate to kill him. This world is so dirty! What are you now becoming? Your aim and objective is in front of you. You simply used to say: “O Purifier, come and purify us!” You didn’t say, “Come and make us into the masters of the world!” God, the Father, establishes heaven. So, why are we not in heaven? Ravan has made you into residents of hell. Because the duration of the cycle has been said to be hundreds of thousands of years, everyone has forgotten. The Father says: You were the masters of heaven. Having been around the cycle, you have now become the masters of hell. Now, once again, the Father is making you into the masters of heaven. He says: Sweet souls, children, remember the Father, and you will become satopradhan from tamopradhan. It has taken you half the cycle to become tamopradhan. It could even be said to be the whole cycle because your degrees have continued to decrease from the beginning; no degrees now remain. They (devotees) say: I am without virtue, I have no virtues. The meaning of this is so clear. There is an organisation here called “Nirgun Balak” – Children Without Virtues. Otherwise, children, who aren’t even aware of vice, are said to be even more elevated than great souls. Great souls are aware of the vices. This is why they even speak wrong words. Maya has made everyone completely unrighteous. They study the Gita. They even quote: God speaks, ‘Lust is the greatest enemy’. It causes sorrow from its beginning, through the middle to the end, yet people create so many obstacles to your becoming pure. They become so upset when their child won’t get married. The Father says: You children have to follow shrimat. Those who are not going to become flowers will not listen to you no matter how much you explain to them. Sometimes, when children say that they won’t get married, their parents commit so many atrocities. The Father says: When I create this sacrificial fire of knowledge, so many obstacles are created. They don’t even give you three feet of land. Simply remember the Father according to His directions and become pure. You don’t have any other difficulty. Simply consider yourselves to be souls and remember the Father. Just as each of you souls has incarnated in your own body, so the Father too has incarnated in this body. How could He have incarnated in a crocodile or a fish? They insult Him so much! They say that God is in every particle. The Father says: They defame Me and the deities. I have to come. I come and give you children your inheritance once again. I give you your inheritance and Ravan curses you. This is a game. When someone doesn’t follow shrimat, it is understood that his fortune is not so elevated. Those who have this fortune will wake up early in the morning and remember Baba and talk to Baba. When you consider yourselves to be souls and you remember the Father, you will be absolved of your sins. Your mercury of happiness will also rise. Those who pass with honours become worthy of claiming the kingdom. It isn’t just Lakshmi and Narayan who rule the kingdom; there is a dynasty. The Father says: Your intellects are now becoming so clean! This is called the company of the Truth (satsang). There is only one satsang in which the Father gives you true knowledge and makes you into the masters of the land of truth. It is only at the confluence age of the cycle that you receive the company of the Truth. In the golden age, there is no type of satsang. You are the spiritual Salvation Army. You take the boat of the world across. It is the Father who salvages you and gives you shrimat. Your praise is very great. The praise of the Father and Bharat is limitless. The praise of you children too is limitless. You become the masters of Brahmand and also the masters of the world. I simply become the Master of Brahmand. You are doubly worshipped. I do not become a deity that I would be doubly worshipped. Each one of you understands this knowledge, numberwise, and makes effort with that happiness. There is so much difference in how you study! In the golden age, there is the kingdom of Lakshmi and Narayan. There are no advisers there. Lakshmi and Narayan are called a goddess and god, would they ever take advice from an adviser? Advisers are appointed when kings become impure. At present, it is government of the people by the people. You children have disinterest in this old world. It is said: Knowledge, devotion and disinterest. Only the spiritual Father gives you this knowledge. No one else can teach this. Only the Father is the Purifier, the Bestower of Salvation for All. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Together with remembering the Father, also do the service of making others equal to yourself. “Charity begins at home.” Explain to everyone with love.
  2. Have unlimited disinterest in this old world. Hear no evil, see no evil. You are the children of the unlimited Father. Therefore, remain in the happiness of the infinite treasures He gives you.
Blessing: May you become greatly fortunate by making your fortune for the whole cycle with a deal of a second.
You have received the blessing at the time of the confluence of making as much fortune as you want and how you want because the Father, the Bestower of Fortune, has put the key of making fortune in your hands. Even the last one can go fast and come first. For this, in the expansion of service, simply practise making your stage its essence in a second. The moment you receive the direction to become a master seed in a second, it should not take you any time. With this deal of a second, you can make your fortune for the whole cycle.
Slogan: Make the atmosphere powerful with your double service and the elements of matter will become your servants.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 27 JULY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 27 July 2020

Murli Pdf for Print : – 

27-07-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – अपने ऊपर आपेही रहम करो, बाप जो श्रीमत देते हैं उस पर चलते रहो, बाप की श्रीमत है – बच्चे, टाइम वेस्ट न करो, सुल्टा कार्य करो”
प्रश्नः- जो तकदीरवान बच्चे हैं, उनकी मुख्य धारणा कौन-सी होगी?
उत्तर:- तकदीरवान बच्चे सवेरे-सवेरे उठकर बाप को बहुत प्यार से याद करेंगे। बाबा से मीठी-मीठी बातें करेंगे। कभी भी अपने ऊपर बेरहमी नहीं करेंगे। वह पास विद ऑनर होने का पुरूषार्थ कर स्वयं को राजाई के लायक बनायेंगे।

ओम् शान्ति। बच्चे बाप के सामने बैठे हैं तो जानते हैं कि हमारा बेहद का बाप है और हमको बेहद का सुख देने के लिए श्रीमत दे रहे हैं। उनके लिए गाया ही जाता है – रहमदिल, लिबरेटर……. बहुत महिमा करते हैं। बाप कहते हैं सिर्फ महिमा की भी बात नहीं। बाप का तो फर्ज़ है बच्चों को मत देना। बेहद का बाप भी मत देते हैं। ऊंच ते ऊंच बाप है तो जरूर उनकी मत भी ऊंच ते ऊंच होगी। मत लेने वाली आत्मा है, अच्छा वा बुरा काम आत्मा ही करती है। इस समय दुनिया को मिलती है रावण की मत। तुम बच्चों को मिलती है राम की मत। रावण की मत से बेरहम हो उल्टा काम करते हैं। बाप मत देते हैं सुल्टा अच्छा कार्य करो। सबसे अच्छा कार्य अपने ऊपर रहम करो। तुम जानते हो हम आत्मा सतोप्रधान थी, बहुत सुखी थी फिर रावण की मत मिलने से तुम तमोप्रधान बन गये हो। अब फिर बाप मत देते हैं कि एक तो बाप की याद में रहो। अब अपने पर रहम करो, यह मत देते हैं। बाप रहम नहीं करते। बाप तो श्रीमत देते हैं ऐसे-ऐसे करो। अपने ऊपर आपेही रहम करो। अपने को आत्मा समझ और अपने पतित-पावन बाप को याद करो तो तुम पावन बन जायेंगे। बाप राय देते हैं, तुम पावन कैसे बनेंगे। बाप ही पतित को पावन बनाने वाला है। वह श्रीमत देते हैं। अगर उनकी मत पर नहीं चलते हैं तो अपने ऊपर बेरहम होते हैं। बाप श्रीमत देते हैं कि बच्चे टाइम वेस्ट मत करो। यह पाठ पक्का कर लो कि हम आत्मा हैं। शरीर निर्वाह अर्थ धन्धा आदि भल करो फिर भी टाइम निकाल युक्ति रचो। काम करते आत्मा की बुद्धि बाप तरफ होनी चाहिए। जैसे आशिक-माशुक भी काम तो करते हैं ना। दोनों एक-दो के ऊपर आशिक होते हैं। यहाँ ऐसे नहीं है। तुम भक्ति मार्ग में भी याद करते हो। कई कहते हैं कैसे याद करें? आत्मा का, परमात्मा का रूप क्या है, जो याद करें? क्योंकि भक्ति मार्ग में तो गाया जाता है कि परमात्मा नाम-रूप से न्यारा है। परन्तु ऐसे नहीं है। कहते भी हैं भ्रकुटी के बीच में आत्मा स्टार मिसल है फिर क्यों कहते हैं कि आत्मा क्या है, उनको देख नहीं सकते। वह तो है ही जानने की चीज़। आत्मा को जाना जाता है, परमात्मा को भी जाना जाता है। वह अति सूक्ष्म चीज़ है। फायरफ्लाई से भी महीन है। शरीर से कैसे निकल जाती, पता भी नहीं पड़ता। आत्मा है, साक्षात्कार होता है। आत्मा का दीदार हुआ सो क्या। वह तो स्टॉर मिसल सूक्ष्म है। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। जैसे आत्मा, वैसे परमात्मा भी सोल है। परन्तु परमात्मा को कहा जाता है – सुप्रीम सोल। वह जन्म-मरण में नहीं आते। आत्मा को सुप्रीम तब कहा जाए जब जन्म-मरण रहित हो। बाकी मुक्तिधाम में तो सबको पवित्र होकर जाना है। उनमें भी नम्बरवार हैं, जिनका हीरो-हीरोइन का पार्ट है। आत्मायें नम्बरवार तो हैं ना। नाटक में भी कोई बहुत पगार वाले, कोई कम वाले होते हैं। लक्ष्मी-नारायण की आत्मा को मनुष्य आत्माओं में सुप्रीम कहेंगे। भल पवित्र तो सभी बनते हैं फिर भी नम्बरवार पार्ट है। कोई महाराजा, कोई दासी, कोई प्रजा। तुम एक्टर्स हो। जानते हो इतने सब देवतायें नम्बरवार हैं। अच्छा पुरूषार्थ करेंगे, ऊंच आत्मा बनेंगे, ऊंच पद पायेंगे। तुमको स्मृति आई है हमने 84 जन्म कैसे लिये। अब बाप के पास जाना है। बच्चों को यह खुशी भी है तो फखुर (नशा) भी है। सब कहते हैं हम नर से नारायण विश्व के मालिक बनेंगे। फिर तो ऐसा पुरूषार्थ करना पड़े। पुरूषार्थ अनुसार नम्बरवार पद पाते हैं। सबको नम्बरवार पार्ट मिला हुआ है। यह ड्रामा बना बनाया है।

अभी बाप तुमको श्रेष्ठ मत देते हैं। कैसे भी करके बाप को याद करो तो विकर्म विनाश हों, तो तुम तमोप्रधान से सतोप्रधान बन जाओ। पापों का बोझा तो सिर पर बहुत है। उनको कैसे भी करके यहाँ खलास करना है तब आत्मा पवित्र बनेंगी। तमोप्रधान भी तुम आत्मा बनी हो तो सतोप्रधान भी आत्मा को बनना है। इस समय जास्ती इनसालवेन्ट भारत है। यह खेल ही भारत पर है। बाकी वह तो सिर्फ धर्म स्थापन करने आते हैं। पुनर्जन्म लेते-लेते पिछाड़ी में सब तमोप्रधान बनते हैं। स्वर्ग के मालिक तुम बनते हो। जानते हो भारत बहुत ऊंच देश था। अभी कितना गरीब है, गरीब को ही सब मदद देते हैं। हर बात की भीख मांगते ही रहते हैं। आगे तो बहुत अनाज यहाँ से जाता था। अभी गरीब बने हैं तो फिर रिटर्न सर्विस हो रही है। जो ले गये हैं वह उधार मिल रहा है। कृष्ण और क्रिश्चियन राशि एक ही है। क्रिश्चियन ने ही भारत को हप किया है। अब फिर ड्रामा अनुसार वह आपस में लड़ते हैं, मक्खन तुम बच्चों को मिल जाता है। ऐसे नहीं कि कृष्ण के मुख में माखन था। यह तो शास्त्रों में लिख दिया है। सारी दुनिया कृष्ण के हाथ में आती है। सारे विश्व का तुम मालिक बनते हो। तुम बच्चे जानते हो हम विश्व के मालिक बनते हैं तो तुमको कितनी खुशी होनी चाहिए। तुम्हारे कदम-कदम में पद्म हैं। सिर्फ एक लक्ष्मी-नारायण का राज्य नहीं था। डिनायस्टी थी ना। यथा राजा-रानी तथा प्रजा – सबके पांव में पद्म होते हैं। वहाँ तो अनगिनत पैसे होते हैं। पैसे के लिए कोई पाप आदि नहीं करते, अथाह धन होता है। अल्लाह अवलदीन का खेल दिखाते हैं ना। अल्लाह जो अवलदीन अर्थात् जो देवी-देवता धर्म स्थापन करते हैं। सेकण्ड में जीवनमुक्ति दे देते हैं। सेकण्ड में साक्षात्कार हो जाता है। कारून का खजाना दिखाते हैं। मीरा कृष्ण से साक्षात्कार में डांस करती थी। वह था भक्ति मार्ग। यहाँ भक्ति मार्ग की बात नहीं। तुम तो वैकुण्ठ में प्रैक्टिकल में जाकर राज्य-भाग्य करेंगे। भक्ति मार्ग में सिर्फ साक्षात्कार होता है। इस समय तुम बच्चों को एम आब्जेक्ट का साक्षात्कार होता है, जानते हो हम यह बनेंगे। बच्चों को भूल जाता है इसलिए बैज दिये जाते हैं। अभी हम बेहद के बाप के बच्चे बने हैं। कितनी खुशी होनी चाहिए। यह तो घड़ी-घड़ी पक्का कर देना चाहिए। परन्तु माया आपोजीशन में है तो वह खुशी भी उड़ जाती है। बाप को याद करते रहेंगे तो नशा रहेगा – बाबा हमको विश्व का मालिक बनाते हैं। फिर माया भुला देती है तो फिर कुछ न कुछ विकर्म हो जाता है। तुम बच्चों को स्मृति आई है – हमने 84 जन्म लिये हैं, और कोई 84 जन्म नहीं लेते हैं। यह भी समझना है – जितना हम याद करेंगे उतना ऊंच पद पायेंगे और फिर आप-समान भी बनाना है, प्रजा बनानी है। चैरिटी बिगन्स एट होम। तीर्थों पर भी पहले खुद जाते हैं फिर मित्र-सम्बन्धियों आदि को भी इकट्ठा ले जाते हैं। तो तुम भी प्यार से सबको समझाओ। सब नहीं समझेंगे। एक ही घर में बाप समझेगा तो बच्चा नहीं समझेगा। माँ-बाप कितना भी बच्चों को कहेंगे पुरानी दुनिया से दिल नहीं लगाओ फिर भी मानेंगे नहीं। तंग कर देते हैं। जो यहाँ का सैपलिंग होगा वही फिर आकर समझेंगे। इस धर्म की स्थापना देखो कैसे होती है, और धर्म वालों की सैपलिंग नहीं लगती। वह तो ऊपर से आते हैं। उनके फालोअर्स भी आते रहते हैं। यह तो स्थापना करते हैं और फिर सबको पावन बनाकर ले जाते हैं इसलिए उनको सतगुरू लिबरेटर कहा जाता है। सच्चा गुरू एक ही है। मनुष्य कभी किसकी सद्गति नहीं करते। सद्गति दाता है ही एक, उनको ही सतगुरू कहा जाता है। भारत को सचखण्ड भी वह बनाते हैं। रावण झूठखण्ड बना देते हैं। बाप के लिए भी झूठ, देवताओं के लिए भी झूठ कह देते हैं। तब बाप कहते हैं हियर नो ईविल…… इनको कहा जाता है वेश्यालय। सतयुग है शिवालय। मनुष्य समझते थोड़ेही हैं। वह तो अपनी मत पर ही चलते हैं। कितना लड़ना-झगड़ना चलता रहता है। बच्चे माँ को, पति स्त्री को मारने में देरी नहीं करते। एक-दो को काटते रहते हैं। बच्चा देखता है बाप के पास बहुत धन है, देता नहीं है तो मारने में भी देरी नहीं करते हैं। कैसी गन्दी दुनिया है। अभी तुम क्या बन रहे हो। यह तुम्हारी एम ऑब्जेक्ट खड़ी है। तुम तो सिर्फ कहते थे हे पतित-पावन आकर हमको पावन बनाओ। ऐसे थोड़ेही कहते थे कि विश्व का मालिक बनाओ। गॉड फादर तो हेविन स्थापन करते हैं तो हम हेविन में क्यों नहीं हैं। फिर रावण तुमको नर्कवासी बनाते हैं। कल्प की आयु लाखों वर्ष कह देने से भूल गये हैं। बाप कहते हैं तुम हेविन के मालिक थे। अब फिर चक्र लगाए हेल के मालिक बने हो। अभी फिर बाप तुमको हेविन का मालिक बनाते हैं। कहते हैं मीठी आत्मायें, बच्चों बाप को याद करो तो तुम तमोप्रधान से सतोप्रधान बन जायेंगे। तमोप्रधान बनने में आधाकल्प लगा है, बल्कि सारा ही कल्प कहें क्योंकि कला तो कम होती जाती है। इस समय कोई कला नहीं है। कहते हैं मैं निर्गुण हारे में कोई गुण नाही, इनका अर्थ कितना क्लीयर है। यहाँ फिर निर्गुण बालक की संस्था भी है। बालकों में कोई गुण नहीं है। नहीं तो बालक को महात्मा से भी ऊंच कहा जाता है, उनको विकारों का भी पता नहीं। महात्माओं को तो विकारों का पता रहता है तो अक्षर भी कितने रांग बोलते हैं। माया बिल्कुल अनराइटियस बना देती है। गीता पढ़ते भी हैं, कहते भी हैं भगवानुवाच – काम महाशत्रु है, यह आदि-मध्य-अन्त दु:ख देने वाला है फिर भी पवित्र बनने में कितने विघ्न डालते हैं। बच्चा शादी नहीं करता तो कितना बिगड़ते हैं। बाप कहते हैं तुम बच्चों को श्रीमत पर चलना है। जो फूल बनने का नहीं होगा, कितना भी समझाओ कभी नहीं मानेगा। कहाँ बच्चे कहते हैं हम शादी नहीं करेंगे तो माँ-बाप कितने अत्याचार करते हैं।

बाप कहते हैं जब ज्ञान यज्ञ रचता हूँ तो अनेक प्रकार के विघ्न पड़ते हैं। तीन पैर पृथ्वी के भी नहीं देते। तुम सिर्फ बाप की मत पर याद कर पवित्र बनते हो, और कोई तकलीफ नहीं। सिर्फ अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। जैसे तुम आत्मायें इस शरीर में अवतरित हो वैसे बाप भी अवतरित हैं। फिर कच्छ अवतार, मच्छ अवतार कैसे हो सकते! कितनी गाली देते हैं! कहते हैं कंकड़-कंकड़ में भगवान है। बाप कहते हैं मेरी और देवताओं की ग्लानि करते हैं। मुझे आना पड़ता है, आकर तुम बच्चों को फिर से वर्सा देता हूँ। मैं वर्सा देता हूँ, रावण श्राप देता है। यह खेल है। जो श्रीमत पर नहीं चलते हैं तो समझा जाता है इनकी तकदीर इतनी ऊंच नहीं है। तकदीर वाले सवेरे-सवेरे उठकर याद करेंगे, बाबा से बातें करेंगे। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो तो विकर्म विनाश हों। खुशी का पारा भी चढ़ेगा। जो पास विद् ऑनर होते हैं वही राजाई के लायक बन सकते हैं। सिर्फ एक लक्ष्मी-नारायण नहीं राज्य करते हैं। डिनायस्टी है। अब बाप कहते हैं तुम कितना स्वच्छ बुद्धि बनते हो। इनको कहा जाता है सतसंग। सतसंग एक ही होता है। जो बाप सच्ची-सच्ची नॉलेज दे सचखण्ड का मालिक बनाते हैं। कल्प के संगम पर ही सत का संग मिलता है। स्वर्ग में कोई भी प्रकार का सतसंग होता नहीं।

अभी तुम हो रूहानी सैलवेशन आर्मी। तुम विश्व का बेड़ा पार करते हो। तुमको सैलवेज करने वाला, श्रीमत देने वाला बाप है। तुम्हारी महिमा बहुत भारी है। बाप की महिमा, भारत की महिमा अपरमअपार है। तुम बच्चों की भी महिमा अपरमअपार है। तुम ब्रह्माण्ड के भी और विश्व के भी मालिक बनते हो। मैं तो सिर्फ ब्रह्माण्ड का मालिक हूँ। पूजा भी तुम्हारी डबल होती है। मैं तो देवता नहीं बनता हूँ जो डबल पूजा हो। तुम्हारे में भी नम्बरवार समझते हैं और खुशी में आकर पुरूषार्थ करते हैं। पढ़ाई में फर्क कितना है। सतयुग में लक्ष्मी-नारायण का राज्य चलता है। वहाँ वजीर होते नहीं। लक्ष्मी-नारायण, जिनको भगवान भगवती कहते हैं वह फिर वजीर की राय लेंगे क्या! जब पतित राजायें बनते हैं तब फिर वजीर आदि रखते हैं। अभी तो है प्रजा का प्रजा पर राज्य। तुम बच्चों को इस पुरानी दुनिया से वैराग्य है। ज्ञान, भक्ति, वैराग्य। ज्ञान सिर्फ रूहानी बाप सिखलाते हैं और कोई सिखला न सके। बाप ही पतित-पावन सर्व का सद्गति दाता है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप की याद के साथ-साथ आप समान बनाने की सेवा भी करनी है। चैरिटी बिगन्स एट होम…. सबको प्यार से समझाना है।

2) इस पुरानी दुनिया से बेहद का वैरागी बनना है। हियर नो ईविल, सी नो ईविल…..। उस बेहद बाप के बच्चे हैं, वह हमें कारून का खजाना देते हैं, इसी खुशी में रहना है।

वरदान:- एक सेकण्ड की बाजी से सारे कल्प की तकदीर बनाने वाले श्रेष्ठ तकदीरवान भव
इस संगम के समय को वरदान मिला है जो चाहे, जैसा चाहे, जितना चाहे उतना भाग्य बना सकते हैं क्योंकि भाग्य विधाता बाप ने तकदीर बनाने की चाबी बच्चों के हाथ में दी है। लास्ट वाला भी फास्ट जाकर फर्स्ट आ सकता है। सिर्फ सेवाओं के विस्तार में स्वयं की स्थिति सेकण्ड में सार स्वरूप बनाने का अभ्यास करो। अभी-अभी डायरेक्शन मिले एक सेकण्ड में मास्टर बीज हो जाओ तो टाइम न लगे। इस एक सेकण्ड की बाजी से सारे कल्प की तकदीर बना सकते हैं।
स्लोगन:- डबल सेवा द्वारा पावरफुल वायुमण्डल बनाओ तो प्रकृति दासी बन जायेगी।

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 27 JULY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 27 July 2019

To Read Murli 26 July 2019 :- Click Here
2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – अब सतोप्रधान बन घर जाना है इसलिए अपने को आत्मा समझ निरन्तर बाप को याद करने का अभ्यास करो, उन्नति का सदा ख्याल रखोˮ
प्रश्नः- पढ़ाई में दिन-प्रतिदिन आगे बढ़ रहे हैं या पीछे हट रहे हैं उसकी निशानी क्या है?
उत्तर:- पढ़ाई में अगर आगे बढ़ रहे हैं तो हल्केपन का अनुभव होगा। बुद्धि में रहेगा यह शरीर तो छी-छी है, इसको छोड़ना है, हमको तो अब घर जाना है। दैवीगुण धारण करते जायेंगे। अगर पीछे हट रहे हैं तो चलन से आसुरी गुण दिखाई देंगे। चलते-फिरते बाप की याद नहीं रहेगी। वह फूल बन सबको सुख नहीं दे सकेंगे। ऐसे बच्चों को आगे चल साक्षात्कार होंगे फिर बहुत सजायें खानी पड़ेंगी।

ओम् शान्ति। बुद्धि में यह ख्यालात रहे कि हम सतोप्रधान आये थे। रूहानी बाप रूहानी बच्चों को समझाते हैं यहाँ सब बैठे हैं, कोई तो देह-अभिमानी हैं और कोई देही-अभिमानी होंगे। कोई सेकण्ड में देह-अभिमानी और सेकण्ड में देही-अभिमानी होते रहेंगे। ऐसे तो कोई कह न सके कि हम सारा समय देही-अभिमानी हो बैठे हैं। नहीं, बाप समझाते हैं कोई समय देही-अभिमानी, कोई समय देह-अभिमान में होंगे। अब बच्चे यह तो जानते हैं हम आत्मा इस शरीर को छोड़ जायेंगे अपने घर। बहुत खुशी से जाना है। सारा दिन चिंतन ही यह करते हैं – हम शान्तिधाम में जायें क्योंकि बाप ने रास्ता तो बताया है। और लोग कभी इस विचार से नहीं बैठते होंगे। यह शिक्षा किसको मिलती ही नहीं है। ख्याल भी नहीं होगा। तुम समझते हो यह दु:खधाम है। अब बाप ने सुखधाम में जाने का रास्ता बताया है। जितना बाप को याद करेंगे उतना सम्पूर्ण बन यथा योग्य शान्तिधाम में जायेंगे, उनको ही मुक्ति कहा जाता है, जिसके लिए ही मनुष्य गुरू करते हैं। परन्तु मनुष्यों को बिल्कुल पता नहीं कि मुक्ति-जीवनमुक्ति चीज़ क्या है क्योंकि यह है नई बात। तुम बच्चे ही समझते हो अब हमको घर जाना है। बाप कहते हैं याद की यात्रा से पवित्र बनो। तुम पहले-पहले जब आये श्रेष्ठाचारी दुनिया में तो सतोप्रधान थे। आत्मा सतोप्रधान थी। कोई के साथ कनेक्शन भी पीछे होगा। जब गर्भ में जायेंगे तब सम्बन्ध में आयेंगे। तुम जानते हो अभी यह हमारा अन्तिम जन्म है। हमको वापिस घर जाना है। पवित्र बनने बिगर हम जा नहीं सकेंगे। ऐसे-ऐसे अन्दर में बातें करनी चाहिए क्योंकि बाप का फ़रमान है उठते-बैठते, चलते-फिरते बुद्धि में यही ख्यालात रहें कि हम सतोप्रधान आये थे, अब सतोप्रधान बनकर घर जाना है। सतोप्रधान बनना है बाप की याद से क्योंकि बाप ही पतित-पावन है। हम बच्चों को युक्ति बताते हैं कि तुम ऐसे पावन हो सकेंगे। सारे सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त को तो बाप ही जानते हैं और कोई अथॉरिटी है नहीं। बाप ही मनुष्य सृष्टि का बीजरूप है। भक्ति कहाँ तक चलती है, यह भी बाप ने समझाया है। इतना समय ज्ञान मार्ग, इतना समय भक्ति। यह सारा ज्ञान अन्दर में टपकना चाहिए। जैसे बाप की आत्मा में ज्ञान है, तुम्हारी आत्मा में भी ज्ञान है। शरीर द्वारा सुनते और सुनाते हैं। शरीर बिगर तो आत्मा बोल न सके, इसमें प्रेरणा वा आकाशवाणी की बात होती नहीं। भगवानुवाच है तो जरूर मुख चाहिए, रथ चाहिए। गधे-घोड़े का रथ तो नहीं चाहिए। तुम भी पहले समझते थे कलियुग अभी 40 हज़ार वर्ष और चलना है। अज्ञान नींद में सोये पड़े थे, अब बाबा ने जगाया है। तुम भी अज्ञान में थे। अब ज्ञान मिला है। अज्ञान कहा जाता है भक्ति को।

अब तुम बच्चों को यह ख्याल करना है हम अपनी उन्नति कैसे करें, ऊंच पद कैसे पायें? अपने घर जाकर फिर नई राजधानी में आकर ऊंच मर्तबा पायें। उसके लिए है याद की यात्रा। अपने को आत्मा तो जरूर समझना है। हम सब आत्माओं का बाप परमात्मा है। यह तो बहुत सिम्पुल है। परन्तु मनुष्य इतनी बात भी नहीं समझते। तुम समझा सकते हो कि यह है रावण राज्य, इसलिए तुम्हारी बुद्धि भ्रष्टाचारी बन गई है। मनुष्य समझते हैं जो विकार में नहीं जाते हैं वह पावन हैं। जैसे सन्यासी हैं। बाप कहते हैं वह तो अल्पकाल के लिए पावन बनते हैं। दुनिया तो फिर भी पतित है ना। पावन दुनिया है ही सतयुग। पतित दुनिया में सतयुग जैसा पावन कोई हो नहीं सकता। वहाँ तो रावण राज्य ही नहीं, विकार की बात ही नहीं। तो चक्र लगाते घूमते-फिरते बुद्धि में यह चिंतन रहना चाहिए। बाबा में यह ज्ञान है ना। ज्ञान सागर है तो जरूर ज्ञान टपकता होगा। तुम भी ज्ञान सागर से निकली हुई नदियां हो। वह तो एवर सागर ही है, तुम एवर सागर नहीं हो। तुम बच्चे समझते हो हम तो सब भाई-भाई हैं। तुम बच्चे पढ़ते हो, वास्तव में नदियों आदि की बात नहीं। नदी कहने से गंगा जमुना आदि कह देते हैं। तुम अभी बेहद में खड़े हो। हम सब आत्मायें एक बाप के बच्चे भाई-भाई हैं। अभी हमें वापिस घर जाना है। जहाँ से आकर शरीर रूपी तख्त पर विराजमान होते हैं। बहुत छोटी आत्मा है, साक्षात्कार होने से समझ न सकें। आत्मा निकलती है तो कभी कहते हैं माथे से निकली, आंखों से, मुख से निकली…….. मुख खुल जाता है। आत्मा शरीर छोड़ चली जाती है तो शरीर जड़ हो जाता है। यह ज्ञान है। स्टूडेन्ट की बुद्धि में सारा दिन पढ़ाई रहती है। तुम्हारे भी सारा दिन पढ़ाई के ही ख्यालात चलने चाहिए। अच्छे-अच्छे स्टूडेन्ट के हाथ में सदैव कोई न कोई किताब रहती है। पढ़ते रहते हैं।

बाप कहते हैं तुम्हारा यह अन्तिम जन्म है, सारा चक्र लगाकर अन्त में आये हो तो बुद्धि में यही सिमरण रहना चाहिए। धारणा कर औरों को समझाना चाहिए। कोई को तो धारणा होती ही नहीं। स्कूल में भी नम्बरवार स्टूडेन्ट होते हैं। सब्जेक्ट भी बहुत होती हैं। यहाँ तो सब्जेक्ट एक ही है। देवता बनना है, यही पढ़ाई का चिन्तन चलता रहे। ऐसे नहीं, पढ़ाई भूल जाये बाकी और-और ख्यालात चलते रहें। धन्धे वाला होगा, अपने धन्धे के ही ख्यालात में लगा रहेगा। स्टूडेन्ट पढ़ाई में ही लगा रहेगा। तुम बच्चों को भी अपनी पढ़ाई में रहना है।

कल एक निमंत्रण पत्र आया था इन्टरनेशनल योग कान्फ्रेन्स का। तुम उन्हों को लिख सकते हो तुम्हारा तो यह है हठयोग। इसकी एम ऑबजेक्ट क्या है? इससे फ़ायदा क्या होता है? हम तो राजयोग सीख रहे हैं। परमपिता परमात्मा जो ज्ञान सागर है, वह रचयिता हमको अपना और रचना का ज्ञान सुनाते हैं। अब हमको वापिस घर जाना है। मनमनाभव – यह है हमारा मंत्र। हम बाप को और बाप द्वारा जो वर्सा मिलता है, उसको याद करते हैं। तुम यह हठयोग आदि करते आये हो, इसकी एम ऑब्जेक्ट क्या है? हमने अपना तो बताया कि हम यह सीख रहे हैं। तुम्हारे इस हठयोग से क्या मिलता है? ऐसा रेसपान्ड नटशेल में लिखना है। ऐसे-ऐसे निमंत्रण तो तुम्हारे पास बहुत आते हैं। ऑल इन्डिया रिलीजस कान्फ्रेन्स का तुमको निमंत्रण आये और तुमको बोले – आपका एम आबजेक्ट क्या है? तो बोलो हम यह सीख रहे हैं। अपना जरूर बताना चाहिए, क्यों? यह राजयोग तुम सीख रहे हो। बोलो हम यह पढ़ रहे हैं। हमको पढ़ाने वाला भगवान है, हम सब ब्रदर्स हैं। हम अपने को आत्मा समझते हैं। बेहद का बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझ मामेकम् याद करो तो तुम्हारे पाप कट जायेंगे। ऐसी-ऐसी लिखत बहुत अच्छी रीति छपाकर रख दो। फिर जहाँ-जहाँ कान्फ्रेन्स आदि हो वहाँ भेज दो। कहेंगे यह तो बहुत अच्छे कायदे की बात सीखते हैं। इस राजयोग से राजाओं का राजा विश्व का मालिक बनते हैं। हर 5 हज़ार वर्ष बाद हम देवता बनते हैं फिर मनुष्य बनते हैं। ऐसे-ऐसे विचार सागर मंथन कर फर्स्टक्लास लिखत बनानी चाहिए। उद्देश्य तुमसे पूछ सकते हैं। तो यह छपा हुआ रखा हो, हमारी एम ऑबजेक्ट यह है। ऐसे लिखने से टैम्पटेशन होगी। इसमें कोई हठयोग वा शास्त्रार्थ करने की बात नहीं। उनको शास्त्रार्थ का भी कितना अहंकार रहता है। वे अपने को शास्त्रों की अथॉरिटी समझते हैं। वास्तव में तो वह पुजारी हैं, अथॉरिटी तो पूज्य को कहेंगे। पुजारी को क्या कहेंगे? तो यह क्लीयर कर लिखना चाहिए – हम क्या सीखते हैं। बी.के. का नाम तो मशहूर हो गया है।

योग तो दो प्रकार का है – एक है हठयोग, दूसरा है सहज योग। वह तो कोई मनुष्य सिखला न सके। राजयोग एक परमात्मा ही सिखलाते हैं। बाकी यह अनेक प्रकार के योग हैं मनुष्य मत पर। वहाँ देवताओं को तो किसके मत की दरकार नहीं क्योंकि वर्सा लिया हुआ है। वह हैं देवतायें अर्थात् दैवीगुण वाले, जिनमें ऐसे गुण नहीं उनको असुर कहा जाता है। देवताओं का राज्य था फिर वह कहाँ गये? 84 जन्म कैसे लिए? सीढ़ी पर समझाना चाहिए। सीढ़ी बड़ी अच्छी है। जो तुम्हारी दिल में है वह इस सीढ़ी में है। सारा मदार पढ़ाई पर है। पढ़ाई है सोर्स ऑफ इनकम। यह है सबसे ऊंची पढ़ाई। दी बेस्ट। दुनिया नहीं जानती कि दी बेस्ट कौन-सी पढ़ाई है। इस पढ़ाई से मनुष्य से देवता डबल क्राउन बन जाते हैं। अभी तुम डबल सिरताज बनने का पुरूषार्थ कर रहे हो। पढ़ाई एक ही है फिर कोई क्या बनते, कोई क्या! वन्डर है, एक ही पढ़ाई से राजधानी स्थापन हो जाती है, राजा भी बनते तो रंक भी बनते। बाकी वहाँ दु:ख की बात होती नहीं। मर्तबे तो हैं ना। यहाँ अनेक प्रकार के दु:ख हैं। फैमन, बीमारियां, अनाज आदि नहीं मिलता, फ्लड्स आती रहती। भल लखपति, करोड़पति है, जन्म तो विकारों से ही होता है ना। धक्का खाया, मच्छर ने काटा, यह सब दु:ख है ना। नाम ही है रौरव नर्क। तो भी कहते रहते फलाना स्वर्ग पधारा। अरे, स्वर्ग तो आने वाला है फिर कोई स्वर्ग गया कैसे। किसको भी समझाना तो बहुत सहज है। अब बाबा ने एसे (निबन्ध) दिया है, लिखना बच्चों का काम है। धारणा होगी तो लिखेंगे भी। मुख्य बात बच्चों को समझाते हैं अपने को आत्मा समझो, अब वापिस जाना है। हम सतोप्रधान थे तो खुशी का पारावार नहीं था। अभी तमोप्रधान बने हैं। कितना सहज है। प्वाइंट्स तो बाबा बहुत सुनाते रहते हैं तो अच्छी रीति बैठ समझाना है। नहीं मानते हैं तो समझा जाता है यह हमारे कुल का नहीं है। पढ़ाई में दिन-प्रतिदिन आगे बढ़ना है। पीछे थोड़ेही हटना है। दैवीगुणों के बदले आसुरी गुण धारण करना – यह तो पीछे हटना हुआ ना। बाप कहते हैं विकारों को छोड़ते रहो, दैवीगुण धारण करो। बहुत हल्का रहना है। यह शरीर छी-छी है, इसको छोड़ना है। हमको तो अब जाना है घर। बाप को याद नहीं करेंगे तो गुल-गुल नहीं बनेंगे। बहुत सजायें खानी पड़ेंगी। आगे चल तुमको साक्षात्कार होंगे। पूछेंगे, तुमने क्या सर्विस की है? तुम कभी कोर्ट में नहीं गये हो। बाबा ने सब कुछ देखा हुआ है, कैसे यह लोग चोरों को पकड़ते हैं, फिर केस चलते हैं तो वहाँ भी तुमको सब साक्षात्कार कराते रहेंगे। सजायें खाकर फिर पाई पैसे का पद पा लेंगे। टीचर को तो रहम आता है ना। यह नापास हो जायेंगे। यह बाप को याद करने की सबजेक्ट सबसे अच्छी है, जिससे पाप कटते जाएं। बाबा हमको पढ़ाते हैं। यही सिमरण करते चक्र लगाते रहना चाहिए। स्टूडेन्ट टीचर को याद भी करते हैं और बुद्धि में पढ़ाई रहती है। टीचर से योग तो जरूर होगा ना। यह बुद्धि में रहना चाहिए – हम सब भाइयों का एक टीचर है, वह है सुप्रीम टीचर। आगे चल बहुतों को मालूम पड़ेगा – अहो प्रभू तेरी लीला…….. महिमा करके मरेंगे परन्तु पा तो कुछ नहीं सकेंगे। देह-अभिमान में आने से ही उल्टे काम करते हैं। देही-अभिमानी होने से अच्छा काम करेंगे। बाप कहते हैं अब तुम्हारी वानप्रस्थ अवस्था है। वापिस जाना ही पड़ेगा। हिसाब-किताब चुक्तू कर सबको जाना है। चाहे वा न चाहें, जाना जरूर है। एक दिन ऐसा भी आयेगा जो दुनिया बहुत खाली हो जायेगी। सिर्फ भारत ही रहेगा। आधाकल्प सिर्फ भारत ही होगा तो कितनी दुनिया खाली होगी। ऐसा ख्याल कोई की बुद्धि में नहीं होगा सिवाए तुम्हारे। फिर तो तुम्हारा कोई दुश्मन भी नहीं होगा। दुश्मन आते हैं क्यों? धन के पिछाड़ी। भारत में इतने मुसलमान और अंग्रेज क्यों आये? पैसा देखा। पैसे बहुत थे, अब नहीं हैं तो अब और कोई है नहीं। पैसे ले खाली कर गये। मनुष्य यह नहीं जानते। बाबा कहते हैं पैसा तो तुमने आपेही खत्म कर दिया, ड्रामा प्लैन अनुसार। तुम्हें निश्चय है हम बेहद के बाप पास आये हैं। कभी किसके ख्याल में भी नहीं होगा कि यह ईश्वरीय परिवार है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) चलते फिरते बुद्धि में पढ़ाई का चिंतन करना है। कोई भी कार्य करते बुद्धि में सदा ज्ञान टपकता रहे। यह दी बेस्ट पढ़ाई है, जिसे पढ़कर डबल क्राउन बनना है।

2) अभ्यास करना है हम आत्मा भाई-भाई हैं। देह-अभिमान में आने से उल्टे काम होते हैं इसलिए जितना हो सके देही-अभिमानी रहना है।

वरदान:- सम्बन्ध-सम्पर्क में आते डायमण्ड बन डायमण्ड को देखने वाले बेदाग डायमण्ड भव
बापदादा की श्रीमत है कि डायमण्ड बन डायमण्ड को देखना। चाहे कोई आत्मा काला कोयला, एकदम तमोगुणी हो लेकिन आपकी दृष्टि पड़ने से उसका कालापन कम हो जाए। अमृतवेले से रात तक जितनों के भी सम्पर्क-सम्बन्ध में आओ सिर्फ डायमण्ड बन डायमण्ड देखते रहो। किसी भी विघ्न अथवा स्वभाव के वश डायमण्ड पर दाग न लगे। चाहे अनेक प्रकार की परिस्थितियों के विघ्न आयें लेकिन आप ऐसे पावरफुल बनो जो उसका प्रभाव न पड़े।
स्लोगन:- मन और बुद्धि को मनमत से सदा खाली रखने वाले ही आज्ञाकारी हैं।

TODAY MURLI 27 JULY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 27 July 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 26 July 2019:- Click Here

27/07/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you now have to become satopradhan and return home. Therefore, practise considering yourselves to be souls and constantly remember the Father. Always be concerned about your progress.
Question: What is a sign of whether you are making progress day by day or moving backwards in your study?
Answer: If you are making progress in your study, you experience lightness. It will remain in your intellect that that is a dirty body and that you now have to shed it, that you now have to return home. You will continue to imbibe divine virtues. If you are moving backwards, devilish traits would be visible in your activity. There wouldn’t be remembrance of the Father whilst you are walking and moving around. Such a soul will not be able to become a flower or give happiness to everyone. Such children will later on have visions and also experience a lot of punishment.

Om shanti. Let the thought remain in your intellects that you were satopradhan when you came down here. The spiritual Father explains to the spiritual children: Out of all of you sitting here, some are body conscious and others are soul conscious. Some will continue to become body conscious in a second and soul conscious in the next second. None of you can say that you sit here in soul consciousness all the time; no. The Father explains: You would be soul conscious at some times and body conscious at other times. You children know that you will shed your bodies and go back to your home. You have to return home in great happiness. Throughout the day, the only thought you should have is: I want to go to the land of peace because the Father has shown me the way. Other people would not be sitting with this thought. No one else receives these teachings. They would never even have the thought. We understand that this is the land of sorrow. The Father has now shown you the way to go to the land of happiness. The more you remember the Father, the more perfect you will become according to your capacity and go to the land of peace. That is called liberation for which people adopt gurus, but they don’t know at all what liberation is or liberation-in-life is because this is something new. Only you children understand that you now have to go back home. The Father says: Become pure by having the pilgrimage of remembrance. When you first went to the elevated world, you were satopradhan. Souls were satopradhan. It was later that connections were made with others. When you enter a womb, you forge a relationship. You know that this is now your last birth and that you have to return home. We cannot go home without becoming pure. You should talk to yourself internally: The Father’s orders are: Whilst walking and moving around, let there be this thought in your intellect: We came satopradhan and we now have to become satopradhan and return home. We have to become satopradhan by having remembrance of the Father because only the Father is the Purifier. He shows us children how we can become pure. Only the Father knows the beginning, middle and end of the whole world. There is no other Authority. The Father alone is the Seed of the human world tree. The Father has also explained to you how long devotion lasts. There is the path of knowledge for such and such period and the path of devotion for such and such period. All of this knowledge should trickle into your intellects. Just as the Father’s soul has knowledge in it, so you souls also have knowledge in you. You listen and relate it through your bodies. A soul cannot speak without a body. There is no question of inspiration or “A voice from the ether” in this. Since these are the words of God, a mouth and a chariot are definitely needed. You don’t need a chariot of a donkey or a horse. Previously, you too used to think that the iron age would continue for another 40,000 years. You were sleeping in the sleep of ignorance. Baba has now awakened you. You too were ignorant. You have now received knowledge. Devotion is called ignorance. You children should now be thinking about how to make progress and claim a high status. You want to go to your home and then claim a high status in the new kingdom. There is the pilgrimage of remembrance for that. You must definitely consider yourselves to be souls. The Supreme Soul is the Father of all of us souls. This is very simple, but people don’t even understand this much. You can explain that this is the kingdom of Ravan and that is why their intellects have become corrupt. People think that those who don’t indulge in vice are pure. For example, the Father says of the sannyasis: They become pure for a temporary period, but the world is still impure. The golden age is the pure world. No one in the impure world can be as pure as they are in the golden age. There is no kingdom of Ravan there; there is no question of vice there. So, whilst touring and moving around, let there be these thoughts in your intellects. Baba has this knowledge in Him. He is the Ocean of Knowledge and so the knowledge would definitely trickle from Him. You are rivers that have emerged from the Ocean of Knowledge. He is always the Ocean. You are not always oceans. You children understand that you are all brothers. You children are studying. In fact, it is not a question of rivers etc. When you speak of rivers, they mention the Ganges, the Jamuna, etc. You are now standing in the unlimited. All of us souls are brothers, children of the one Father. We now have to return home from where we will then come down and enter bodies and sit on our thrones (foreheads). A soul is very tiny. If you were to have a vision of one, you wouldn’t understand anything. They say that when a soul leaves a body, he sometimes leaves through the head, sometimes through the eyes, sometimes through the mouth. The mouth remains open then. When a soul leaves a body and departs, the body becomes non-living. This is knowledge. A study remains in the intellects of students throughout the day. You too should just have thoughts of this study throughout the day. Good students always have one book or another in their hands. They are continually studying. The Father says: This is your last birth. You have been around the whole cycle and have now come to the end. Therefore, let there just be these thoughts in your intellects. Imbibe these and then explain to others. Some are unable to imbibe anything at all. At school too, students are numberwise. There are many subjects too. Here, you have just the one subject. You have to become deities. Let there be concern for just this study. It should not be that you forget to study and continue to have other thoughts. Businessmen would always be thinking about their business. Students would always remain busy with their studies. You children also have to remain busy with your study. Yesterday, Baba received an invitation to the International Yoga Conference. You can write and tell them that theirs is hatha yoga. What is the aim and objective of that? What is the benefit of that? We are studying Raj Yoga. The Creator, the Supreme Father, the Supreme Soul, who is the Ocean of Knowledge, is giving us knowledge of ourselves and creation. We now have to return home. Our mantra is “Manmanabhav”. We remember Baba and the inheritance that we receive from the Father. You have been doing hatha yoga etc., but what is its aim and objective? We have told you ours and that is why we are studying this. What can be received through that hatha yoga of yours? You should write such aresponse in a nutshell. You receive many such invitations. If you were to receive an All India Religious Conference invitation and they asked you what your aim and objective is, tell them that this is what we are studying. You must definitely tell them what you do, why you study this Raj Yoga. Tell them: We are studying this. It is God who teaches us and we are all brothers. We consider ourselves to be souls. The unlimited Father says: Consider yourself to be a soul and constantly remember Me alone and your sins will be cut away. You should have such writing printed and kept for giving out. Then, wherever conferences etc. take place, send them there. They will say: You teach very benevolent things. Through this Raj Yoga, you become kings of kings and the masters of the world. Every 5000 years we become deities and then we become human beings. You should churn the ocean of knowledge in this way and write firstclass articles. Anyone can ask you what your aim is. So, you should have these articles printed: This is our aim and objective. When you write this, they will be tempted. There is no question of hatha yoga or of debating scriptures in this. Those people have so much arrogance of their knowledge of the scriptures. They consider themselves to be authorities of the scriptures. In fact, they are worshippers, whereas it could be said that those who are worthy of worship are authorities. What would worshippers be called? You should write very clearly what you are studying. The name of the BKs has become very well known. There are two types of yoga: one is hatha yoga and the other is easy yoga. No human being can teach this. Only the Supreme Soul teaches Raj Yoga. All other types of yoga are based on human dictates. There, the deities do not need anyone’s directions because they have received their inheritance. They are deities, those with divine virtues. Those who don’t have any virtues are called devils. There used to be the kingdom of the deities, so where did they go? How did they take 84 births? You should explain the picture of the ladder. The picture of the ladder is very good. Whatever is in your heart is shown in the picture of the ladder. Everything depends on how you study. Study is a source of income. This is the highest study; it is the best! The world doesn’t know which study isthe best. Through this study, you change from human beings into double-crowned deities. You are now making effort to become doublecrowned. There is just the one study and yet some become one thing and others become something else. It is a wonder that, through the one study, a kingdom is established. Some become kings and some become paupers. However, there is no question of sorrow there. There are different levels of status. Here, there are many types of sorrow. There is famine, illness, shortage of food and floods. Although some are millionaires and multimillionaires, they still take birth through vice. To fall down, to be bitten by a mosquito are all types of sorrow. This is called the extreme depths of hell. Nevertheless, they continue to say: So-and-so has gone to heaven. Ah! but heaven is yet to come. So, how can anyone go to heaven? It is very easy to explain to anyone. Baba has told you to write an essay and so it is the duty of each of you children to write one. If you have imbibed something, you can write it. The main thing that is explained to you children is: Consider yourselves to be souls because you now have to return home. When we were satopradhan, there was no limit to our happiness. We have now become tamopradhan. It is so easy! Baba tells you many points, so you have to sit and explain them very well. If they don’t accept what you say, you can understand that they don’t belong to your clan. You have to move forward in this study day by day. You mustn’t move backwards. If, instead of imbibing divine virtues, you imbibe devilish traits, that is moving backwards. The Father says: Continue to renounce the vices and imbibe divine virtues. You have to remain very light. Those bodies are dirty and you now have to renounce them. We now have to go back home. If you don’t remember the Father, you won’t become flowers. There will be a lot of punishment experienced. As you progress further, you will have visions. You will be asked: What service did you do? You have never been to a court. Baba has seen all about how they catch thieves and how a case is then filed against them. There, you will also have visions of everything. Punishment will be experienced and you will then attain a status worth a few pennies. A teacher would feel mercy that a particular student is going to fail. The subject of remembering the Father is very good and your sins are cut away through this. Baba is teaching us – continue to remember this whilst moving around. Studentsremember their teacher and they also have their studies in their intellects. They definitely have yoga with their teacher. It should remain in your intellects: The Teacher of all of us brothers is the one Supreme Teacher. As you progress further, many people will come to know and they will say: O God, Your activity is divine! They will die praising Him, but they won’t be able to attain anything. By becoming body conscious, you perform wrong actions. Those who are soul conscious will always perform good actions. The Father says: It is now the stage of retirement of all of you. You have to go back home. Everyone has to settle their karmic accounts and return home. Whether some want to or not, they definitely have to return. The day will come when the world becomes empty and only Bharat remains. For half the cycle, there will just be Bharat, and so the world will be so empty. Such thoughts would not be in the intellect of anyone except you. You won’t have any enemies then. Why do enemies come? They come to chase your wealth. Why did so many Muslims and British come to Bharat? They saw the wealth here. There was a lot of wealth here, but it isn’t here any more, so none of them is here now. They have taken away the wealth and emptied Bharat. People don’t know this. Baba says: You used up all the wealth yourselves according to the dramaplan. You have the faith that you have come to the unlimited Father. No one would ever have thought that this is God’s family. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Whilst walking and moving around, keep your intellect thinking about the study. Whilst performing any task, let the knowledge always trickle in your intellect. This is the best study through which you have to become double crowned.
  2. Practise: We souls are brothers. By becoming body conscious, you perform wrong actions. Therefore, remain soul conscious as much as possible.
Blessing: May you become a flawless diamond by having relationships and connections with others as a diamond and only sees the diamond.
BapDada’s shrimat is: Be a diamond and see the diamond. Even if a soul is like coal, completely tamoguni, as soon as your drishti falls on that soul, let their impurity decrease. However many you come into contact with, having relationships and connections from amrit vela until night time, simply be a diamond and continue to see the diamond. Let there not be any flaw in you, the diamond, due to any obstacle or nature. Even if there are obstacles of many different types of situations, just be so powerful that you are not influenced by them.
Slogan: Those who always keep their minds and intellects empty are obedient.

*** Om Shanti ***

TODAY MURLI 27 JULY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 27 July 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 26 July 2018 :- Click Here

27/07/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, it is essential to imbibe the virtue of maturity in this knowledge. You must never have any arrogance. Have regard for the mothers.
Question: What is Baba’s hope for all the children?When will you be able to fulfil that hope?
Answer: Baba’s hope is that the children will make such effort that they change from ordinary humans into Narayan. It is through this that the Father will be revealed. Create such a revelation that the Father is praised and the children are also praised. Baba says: Children, if you become Narayan from an ordinary human, temples will be built to both you and Me. Follow the mother and f ather in order to become worthy of worship like them. Promise yourself that you will follow them completely.
Song: Since the day we met You. 

Om shanti. You children feel that you are definitely listening to new things for the new world. This is our new love. No one else has personal love for the Supreme Father, the Supreme Soul. Therefore, this is a new aspect. You know that Baba is the Purifier. The old world is called impure and the new one is called the pure world. So your love will now be for the new world. You understand that your love is for the new world of heaven. That is called the Shiva Temple, whereas this is called the brothel. There are definitely vicious human beings here. In the golden age they are viceless, and so it is called the Shiva Temple. It is Shiv Baba who establishes such a viceless world. You understand that in this old world there are definitely pictures of the deities who lived in the new world. The residents of Bharat have forgotten all of this and they call it Hindustan. They say: Our Hindustan is lovely. Yes, it definitely was lovely, but the name in fact is not Hindustan; it is called the land of Bharat. So you children understand that these things definitely seem new. We have never heard such things. This knowledge is unique to the whole world. The people of Bharat have many varieties of temple. Christians only had one church and they later created many different churches. In the golden age, there are no temples because that is the kingdom of living deities. The deities ruled in the new world, in the Shiva Temple. You now understand that you are about to go to the new world. Don’t even think these buildings that Baba has had built are new. In fact, they are old in this old world. Our love is now for the new world. Souls have love for the Supreme Soul, the One who is sitting here in person. People think that Brahma Kumars and Kumaris have love for Brahma, but you know that your love is for only one Shiv Baba and none other. Although your name is Brahma Kumars and Kumaris, your love is not for Brahma. This Brahma is a bodily being; he takes birth and rebirth. You should not form any relationship with bodily beings. Those gurus adopt names for themselves such as Satchitananda (the truth, the living being and the embodiment of bliss). However, it is only the Supreme Soul who can be called the Truth, the Living Being and the Embodiment of Bliss. Souls were the truth, living beings, embodiments of bliss, embodiments of peace and embodiments of knowledge. You are now becoming this again at the confluence age. Just as the Father’s praise is: The Ocean of Knowledge and the Ocean of Peace, so you too are embodiments of truth, living beings and embodiments of bliss. By remembering the Seed and the tree, the entire knowledge enters your intellects. There are exactly five ages. It is now the confluence age. The world does not know of this confluence age. They might know about it, but they don’t know the details such as who ruled in the golden age or how they claimed that kingdom. You are now claiming your kingdom. You definitely have to come into the cycle and take rebirth. No one can remain in the golden age for ever. It is now that you receive recognition of heaven and hell. It is now the iron age and then the golden age will definitely come. Therefore, it must definitely have been at the confluence age that the Supreme Father, the Supreme Soul, came. His praise is distinct. It is not that the praise of one can be the same as that of another. Each one has his own sanskars and activities; they cannot be the same as those of another. Each soul has his or her own part. It has been explained to you children that you souls take 84 births. You are listening to new things. The world thinks that Krishna is the God of the Gita. Now, the Father says that Krishna is not the God of the Gita. God speaks: I teach you Raja Yoga and make you into kings of kings, that is, I make you into Lakshmi from an ordinary woman and Narayan from an ordinary man. Baba also asks: Do you want to become Narayan of the sun dynasty or Rama of the moon dynasty? Children say: Baba, our aim and objective is to become the sun dynasty. All are numberwise. Some barristers are very good, whereas others are ordinary. Some surgeons earn hundreds of thousands of rupees, whereas others earn very little. It all depends on how they studied. Among you, too, there are many who will earn a great deal and claim the throne. This is a huge, unlimited, Godly college. There are limitations in other college s – only so many will pass. This college is unlimited. Therefore, you are listening to new things. You now understand that it is the Supreme Father, the Supreme Soul, who gives you innocent ones power. You understand how much power you receive from the Supreme Soul. We are warriors standing on the battlefield. This is a new aspect. A war between the Pandavas and the Kauravas is mentioned in the Gita, but there is no question of a war. Every aspect is new. Krishna is not God, but he is the Alpha of the new world. All aspects are new, starting with Alpha. Lakshmi and Narayan are Alphas of the new world and their children come after them. Lakshmi and Narayan are Alphas of the golden-aged human world. Here, Brahma, Alpha, is the creator of the human world. First of all, the Supreme Father, the Supreme Soul, is Alpha. Later Brahma is made Alpha. Then, Lakshmi and Narayan are made Alpha. Here, you belong to the Brahmin clan. Brahma has been remembered as the head of the Brahmin clan. Although there are those other brahmins, they have never heard the name Brahma Kumars and Brahma Kumaris. This name is not even mentioned in the Gita. Therefore, these aspects are new. Because of calling Bharat ‘Hindustan’, they speak of the Hindu religion. They have no knowledge of their ancient religion. It is as though the deity religion never existed. Because they don’t know their own religion, they say that all religions are the same. People of all religions can come and stay here; they are free to do so. All religions are given regard, and so people of any religion can come and stay. Just look outside, how they continue to reject those of other religions. They continue to deport Indians from Ceylon and Burma. Bharat is in fact, the land of the ancient deity religion, but they (the Government) say that anyone can come and live here. Not all can live together. Everywhere, there is so much conflict among religions. It is said that Bharat will give asylum to all religions; that is why Bharat is praised. You are now listening to new things. There is no one of the deity religion in Bharat at present. We are now making effort for the new world. Shiv Baba creates heaven. In fact, all are children of Brahma, but it is the Brahmins who have especially been remembered. When were they created? Surely, they must have been created at the confluence age. The different castes have also been shown clearly. We become the topknot Brahmins, then deities, warriors, merchants and shudras. Although this knowledge is very deep and entertaining, it hardly sits in anyone’s intellect. You children should imbibe this knowledge very well and never become upset with the teacher. Don’t sulk and stop studying. Otherwise, you will end up in the very depths of hell. The Father has come to relate this knowledge and so you should listen to it. On the path of devotion, so much discipline is maintained when listening to the Gita. They listen with great discipline. They also go to the temple with that discipline. They follow firm disciplines every day. Your disciplines are extremely strict. Stay in remembrance for half a moment or one moment and then increase it. By remembering Baba, the locks on your intellects will open. Shiv Baba does not churn the ocean of knowledge; He does not need to churn knowledge. It is you who need to churn knowledge in order to explain it to others. Therefore, you should never sulk, but have regard for each other. Some children don’t know how to maintain regard for the maharathis. The teachers are still the main ones. They make 10 to 12 similar to themselves, and so they have to be given that regard. It is as though you are Shiv Baba’s agents. Not all agents can be the same; they are all numberwise, yet they are all agents. Some have very good dharna. They remain on service day and night. Shiv Baba too has come here on service. Baba says: I perform a double task. I also serve the devotees. You know who performs the task of granting visions to the whole world? Although these things are predestined in the drama, they receive visions at that time. They think that God, the Father, granted them a vision through divine insight. People everywhere receive visions. Those visions are also fixed in the drama. You need an unlimited intellect for this. These aspects are new. The cycle of the world should spin in your intellects. Some spin the discus of self-realization very fast and some slowly. You are spinners of the discus of self-realization. The intellects continue to work, numberwise, for service. Some are not able to spin the discus of self-realization.Although the wind blows the same way for everyone, the discus of some spins fast, whereas that of others spins slowly. The discus of some does not spin at all. What status will you receive if you don’t spin the discus of self-realization? Therefore, these are new things. The Father continues to explain: If you want to claim your inheritance, claim it now. Otherwise, you will regret it later and also weep. You have to reveal the Teacher. This is a very big college. If you study well you will receive a good status. You should promise that you will follow the mother and father completely. It is not that the son of a barrister will become a barrister; no. Some will become doctor s, some engineer s. Some will even become like Satan and others can become robbers. The Father says: In order to reveal Me, change from an ordinary humans into Narayan. My praise will be sung and your praise will also be sung. You will become deities. A temple will be built to Me and yours will also be built. The main temple should be to one Shiv Baba. Then, along with Him, there are the Brahmins and the children. There is variety in the Dilwala Temple. That is the greatest memorial. You are sitting here in the living form. They show idols of a Shakti riding a lion, and a maharathi riding an elephant. It is said that an elephant was swallowed by an alligator. If there isn’t remembrance of the Father, Maya, the alligator, will swallow you. Maya, the alligator, even swallows good maharathis. Great maturity is needed here. There should be no arrogance of doing something. As much as possible, keep the mothers ahead in everything. Have regard for the mothers. All the keys should be with the mothers. All the news should come from the mothers. Yes, it is possible that some kumars are cleverer than the kumaris and the mothers, but they have to write to Baba for advice. “The king may issue the orders but it is the queen who rules the kingdom.” First, it is the queen then the king. Firstly, the mother guru is needed. There is no system here for men to become gurus. The law here says that you have to keep the mothers in front. Although some men become instruments to bring mothers into gyan, the majority is mothers. You should not have any arrogance that you know everything or that you are clever. It is the mothers who have to be made clever. The centres have to be run by the mothers. At the end, it is through the mothers that the arrows will hit the sannyasis. Therefore, everything has to run according to the law. Those who defame the Supreme Father, the Supreme Soul, cannot claim a high status. Baba cautions everyone. You have to become very sweet. If you hear something that you don’t like, then listen with one ear and let it out of the other. Anger causes a great deal of damage. Some write and ask: Why is anger not said to be worse than lust? But no! Lust causes you sorrow from its beginning, through the middle to the end. Only one Purifier has been remembered. Sannyasis cannot purify anyone. Therefore, you are listening to new aspects that God, the Highest on High, sits here and teaches. He is called Shri, Shri. Then, in the human world, it is said: Shri Lakshmi, Shri Narayan, Shri Rama and Shri Sita. Achcha, who made them elevated? It was Shri, Shri Shiv Baba. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Live in harmony with one another. Give regard to one another. Never sulk and thereby stop studying.
  2. Anger causes a lot of damage. Therefore, if you hear something you don’t like, listen with one ear and let it out of the other. Don’t become angry; become very sweet.
Blessing: May you be liberated in life and remain free from the bondage of being attracted to the sweetness of extroversion.
Extroversion means to encourage one another towards waste through the intentions and nature of people, the vibrations of some gross consciousness, thoughts, words, relationships and connections. To remain constantly in one or another type of wasteful thinking is to be distant from internal happiness, peace and power. The sweetness of extroversion attracts you a great deal from outside and you must therefore, first of all cut it off. It is this sweetness that becomes a subtle bondage and distances you from the destination of success. When you become free from those bondages, you would then be said to be liberated in life.
Slogan: Tapaswis are those who are liberated from any bondage of the influence of those who perform good or bad actions; they are detached observers and merciful.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 27 JULY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 27 July 2018

To Read Murli 26 July 2018 :- Click Here
27-07-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – इस ज्ञान में गम्भीरता का गुण धारण करना बहुत जरूरी है, कभी भी अपना अभिमान नहीं आना चाहिए, माताओं का रिगार्ड रखो”
प्रश्नः- सभी बच्चों के प्रति बाप की आश क्या है? वह आश पूरी कब कर सकेंगे?
उत्तर:- बाप की आश है – बच्चे ऐसा पुरुषार्थ करें जो नर से नारायण बनकर दिखायें। इसमें ही बाप का शो होगा। ऐसा शो निकालो जो बाप का भी गायन हो तो बच्चों का भी गायन हो। बाबा कहे – बच्चे, अगर तुम नर से नारायण बनेंगे तो तुम्हारा भी मन्दिर बनेगा और हमारा भी बनेगा। ऐसा पूज्य बनने लिए फॉलो फादर। अपने आपसे प्रण करो – हम पूरा ही फॉलो करेंगे।
गीत:- जिस दिन से मिले हम तुम…….. 

ओम् शान्ति। बच्चे महसूस करते हैं – बच्चों को भासना आती है। तो जरूर हम नई दुनिया के लिए सब नई बातें सुनते हैं। यह हमारी प्रीत नई लगती है। और कोई की भी प्रीत सम्मुख परमपिता परमात्मा साथ होती ही नहीं। तो यह नई बात है ना। तुम जानते हो बाबा पतित-पावन है। पुरानी दुनिया को पतित, नई दुनिया को पावन कहेंगे। तो तुम्हारी प्रीत नई दुनिया से लगेगी। तुम यह जानते हो हमारी प्रीत अब नई दुनिया स्वर्ग से है। उसको शिवालय कहा जाता है, इनको वेश्यालय कहा जाता है। बरोबर यहाँ विकारी मनुष्य हैं। सतयुग में निर्विकारी हैं तो शिवालय कहेंगे ना। शिवबाबा ही ऐसी निर्विकारी दुनिया स्थापन करते हैं। और जानते हो बरोबर इस पुरानी दुनिया में देवताओं के चित्र हैं जो देवतायें नई दुनिया में रहने वाले हैं। भारतवासी तो सब भूल गये वह तो हिन्दुस्तान कह देते हैं। हिन्दुस्तान हमारा प्यारा, हाँ, जरूर प्यारा था। परन्तु वास्तव में हिन्दुस्तान नाम है नहीं। भारतखण्ड कहा जाता है। तो बच्चे जानते हैं बरोबर यह नई बातें लगती हैं। ऐसी बातें कब नहीं सुनी। यह ज्ञान सारी दुनिया से निराला है। भारतवासियों के मन्दिर भी बहुत हैं। क्रिश्चियन की एक ही चर्च होगी। फिर करके अलग-अलग चर्च बनायेंगे। सतयुग में तो कोई मन्दिर नहीं होता क्योंकि चैतन्य देवताओं का राज्य चलता है। देवतायें शिवालय नई दुनिया में राज्य करते थे। तुम जानते हो अब हम नई दुनिया में जा रहे हैं। यह भी ख्याल कभी नहीं करना कि बाबा ने यह नया मकान बनाया है। वास्तव में पुरानी दुनिया में यह भी पुराना ही है। हमारी प्रीत अब नई दुनिया से लगी है। आत्माओं की परमात्मा साथ प्रीत लगी है, जो सम्मुख बैठे हैं। मनुष्य समझते हैं – ब्रह्माकुमार-कुमारियों की ब्रह्मा से प्रीत लगी है। तुम जानते हो हमारी प्रीत एक शिवबाबा से है। दूसरा न कोई। भल तुम्हारा नाम बी.के. है परन्तु ब्रह्मा से प्रीत नहीं है। यह ब्रह्मा तो देहधारी है ना। जन्म-मरण में आते हैं। तुमको देह से संबंध नहीं जोड़ना है। वह गुरू लोग तो अपना नाम रख देते हैं – सच्चिदानंद। परन्तु सत-चित-आनंद स्वरूप तो एक परमात्मा को ही कहा जाता है। आत्मा सत-चित-आनंद रूप, शान्त रूप, ज्ञान रूप थी। अब तुम फिर से इस संगम पर बनते हो। जैसे बाप की महिमा है ज्ञान का सागर, शान्ति का सागर…….. तुम भी सत-चित-आनंद रूप हो। बीज और झाड़ को याद करने से सारा ज्ञान आ जाता है। बरोबर 5 युग हैं। अभी है संगमयुग। इस संगमयुग को दुनिया नहीं जानती। करके मालूम भी हो परन्तु डिटेल में नहीं जानती कि सतयुग में कौन राज्य करते थे? कैसे राज्य लिया? तुम अब राज्य ले रहे हो। पुनर्जन्म लेते चक्र में तो जरूर आना पड़े। सदैव स्वर्ग में कोई रह न सके। स्वर्ग और नर्क की पहचान अभी मिली है। अभी कलियुग है फिर सतयुग जरूर होगा। तो जरूर संगम पर ही परमपिता परमात्मा आया होगा। उनकी महिमा ही अलग है। ऐसे थोड़ेही कि एक की महिमा दूसरे कोई की हो सकती। हर एक का कर्तव्य अपना, संस्कार अपने, एक न मिले दूसरे से। हर एक आत्मा में अपना-अपना पार्ट है। तुम बच्चों को समझाया गया है – आत्मा 84 जन्म लेती है। तुम नई बातें सुनते हो। दुनिया समझती है गीता का भगवान् कृष्ण था। अब बाप कहते हैं कृष्ण गीता का भगवान् नहीं था। भगवानुवाच – मैं राजयोग सिखाए तुमको राजाओं का राजा अर्थात् नर से नारायण, नारी से लक्ष्मी बनाता हूँ। बाबा पूछते भी हैं तुम सूर्यवंशी नारायण बनेंगे या चन्द्रवंशी राम बनेंगे? कहते हैं बाबा एम ऑब्जेक्ट तो सूर्यवंशी बनने की हैं। नम्बरवार तो होते हैं ना। बैरिस्टर कोई बहुत अच्छा, कोई हल्का होता है। कोई सर्जन तो लाखों रूपया कमाते, कोई बहुत थोड़ा कमाते। पढ़ाई पर मदार रहता है। तुम्हारे में भी कोई तो बहुत कमाई वाले बनेंगे, तख्त पर बैठेंगे। यह बड़ा बेहद का ईश्वरीय कॉलेज है। उन कॉलेजों में हद होती है। इतने पास होंगे, यह है बेहद का कालेज। तो तुम नई बातें सुनते हो। अभी तुम समझ रहे हो – तुम अबलाओं को बल देने वाला वह परमपिता परमात्मा ही है। जानते हो परमात्मा बाप से हमको कितना बल मिलता है। हम वारियर्स (सेना) हैं। युद्ध के मैदान में खड़े हैं। नई बात है ना। गीता में पाण्डवों और कौरवों की लड़ाई दिखाई है परन्तु लड़ाई की तो बात है नहीं। हर एक बात नई है। कृष्ण भगवान् नहीं, वह तो नई दुनिया का अल्फ़ है। अल्फ़ से लेकर सब नई बातें हैं। नई दुनिया का अल्फ़ है लक्ष्मी-नारायण फिर उनके पीछे उनके बच्चे। तो लक्ष्मी-नारायण हैं सतयुगी मनुष्य सृष्टि के अल्फ़। यहाँ मनुष्य सृष्टि का रचयिता अल्फ़ ब्रह्मा है। पहले-पहले है परमपिता परमात्मा अल्फ़। पीछे ब्रह्मा को अल्फ़ बनाते हैं। फिर लक्ष्मी-नारायण को अल्फ़ बनाते हैं। यहाँ तुम ब्राह्मण कुल के हो। ब्राह्मण कुल का बड़ा ब्रह्मा ही गाया जाता है। ब्राह्मण तो भल वह भी हैं परन्तु ब्रह्माकुमार-कुमारियां नाम कभी नहीं सुना है। गीता में भी यह नाम नहीं है। तो नई बात है ना। भारत को हिन्दुस्तान कहने कारण हिन्दु धर्म कह देते हैं। अपने प्राचीन धर्म की पहचान नहीं है। जैसेकि देवता धर्म है ही नहीं। अपने धर्म को न जानने कारण कहते हैं सब धर्म एक ही हैं। भल सब धर्म यहाँ रह सकते हैं, जिसको चाहे सो रहे, फ्री है। सभी धर्मों को मान देते हैं। कोई भी धर्म वाला आकर रह सकता है। बाहर में देखो वह दूसरे धर्म वालों को निकालते रहते हैं। सीलॉन, बर्मा आदि से इन्डियन को निकालते रहते हैं। भारत तो वास्तव में प्राचीन देवी-देवता धर्म वाला है। परन्तु वह तो कहते कोई भी आकर रहे। सब इकट्ठे तो रह न सकें। जहाँ-तहाँ धर्मों की बहुत खिटपिट है। कहते हैं भारत सभी धर्मों को एशलम देगा, इसलिए भारत की महिमा है। अब तुम सभी नई बातें सुनते हो। इस समय भारत में देवी-देवता धर्म का कोई है नहीं। हम उस नई दुनिया के लिए पुरुषार्थ कर रहे हैं। शिवबाबा स्वर्ग रचते हैं। यूँ तो ब्रह्मा की सन्तान सब हैं परन्तु ब्राह्मण ख़ास गाये हुए हैं। उनको कब रचा? जरूर संगम पर रचा। वर्ण भी अच्छी रीति दिखाने हैं। हम ब्राह्मण चोटी फिर देवता, क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र बनते हैं। तो यह ज्ञान बड़ा गुह्य रमणीक है। मुश्किल किसकी बुद्धि में बैठता है।

तुम बच्चे इस ज्ञान को अच्छी रीति धारण करो, कभी भी ब्राह्मणी से रूठना नहीं। रूठ करके पढ़ाई को नहीं छोड़ना है। नहीं तो रसातल में चले जायेंगे। बाप आया है सुनाने तो सुनना चाहिए। भक्ति मार्ग में कितना नियम होता है गीता सुनने का, वह पूरे नेम से सुनते हैं। मन्दिर में भी नेम पूर्वक जाते हैं। रोज़ पक्का नेम रखते हैं। तुम्हारा नेम तो बड़ा कड़ा है। एक घड़ी आधी घड़ी…….. फिर बढ़ाते रहना है। बाबा को याद करने से बुद्धि का ताला खुलेगा। विचार सागर मंथन कोई शिवबाबा नहीं करते हैं, उनको दरकार ही नहीं विचार सागर मंथन की। तुमको दरकार रहती है – किसको कैसे समझायें? तो कभी भी रूठना नहीं चाहिए। एक दो का रिगॉर्ड रखना चाहिए। कई बच्चों को महारथियों का रिगॉर्ड रखना आता नहीं। ब्राह्मणियां जो हैं वह फिर भी मुख्य हैं। 10-12 को आपसमान तो बनाती हैं ना। तो उनका रिगॉर्ड रखना पड़े। तुम जैसेकि शिवबाबा के एजेन्ट हो। सभी एजेन्ट्स एक जैसे तो नहीं होते हैं। नम्बरवार होते हैं फिर भी एजेन्ट्स तो हैं ना। कोई तो बहुत अच्छी रीति धारणा करते हैं। रात-दिन सर्विस में तत्पर रहते हैं। शिवबाबा भी यहाँ सर्विस पर आये हैं ना। बाबा कहते हैं मैं डबल काम करता हूँ। भक्तों की भी सर्विस करता हूँ। तुम जानते हो सारी दुनिया में साक्षात्कार कराने का कर्तव्य कौन करते हैं? भल ड्रामा में सब पहले से नूँध है। उसी समय साक्षात्कार होता है। समझते हैं गॉड फादर ने दिव्य दृष्टि से साक्षात्कार कराया, जहाँ-तहाँ साक्षात्कार होते हैं। यह साक्षात्कार भी ड्रामा में नूँध है, इसमें बड़ी विशालबुद्धि चाहिए। यह हैं नई बातें। सृष्टि का चक्र बुद्धि में फिरना चाहिए। कोई-कोई का यह स्वदर्शन चक्र अच्छा तीखा फिरता है, कोई का कम। तुम स्वदर्शन चक्रधारी हो। सर्विस के लिए बुद्धि चलती रहेगी नम्बरवार। कोई का तो स्वदर्शन चक्र फिरता ही नहीं। हवा तो लगती है परन्तु कोई का बहुत तीखा फिरता है, कोई का बहुत कम फिरता है। कोई का तो बिल्कुल फिरता ही नहीं। स्वदर्शन चक्र नहीं फिरेगा तो बाकी क्या पद पायेंगे? तो यह नई बात हुई ना। बाप समझाते रहते हैं वर्सा लेना है तो अभी लो। नहीं तो फिर पछतायेंगे, रोयेंगे। टीचर का शो करना है ना। यह कितना बड़ा कॉलेज है। अच्छी रीति पढ़ते हैं तो पद भी अच्छा पाते हैं। प्रण करना चाहिए – हम पूरा फॉलो करेंगे। फॉलो मदर-फादर। ऐसे भी नहीं है बैरिस्टर का बच्चा बैरिस्टर ही बनेगा। नहीं। कोई डाक्टर बनेगा, कोई इन्जीनियर, कोई तो शैतान डाकू भी निकल पड़ते हैं। बाप कहते हैं मेरा शो निकालने तुम नर से नारायण बनकर दिखाओ। मेरा भी गायन होगा, तुम्हारा भी गायन होगा। तुम भी देवता बनेंगे। हमारा मन्दिर बनेगा तो तुम्हारा भी बनेगा। मुख्य मन्दिर होना चाहिए एक शिवबाबा का। फिर उनके साथ ब्रह्मा और बच्चे। देलवाड़ा मन्दिर में वैराइटी है ना। यही बड़े ते बड़ा यादगार है। तुम चैतन्य में बैठे हो। शक्ति की शेर पर सवारी, महारथी की हाथी पर सवारी दिखाते हैं। गज को ग्राह ने हप किया। बाप की याद नहीं रहती है तो माया ग्राह हप कर लेता है। अच्छे-अच्छे महारथियों को भी माया ग्राह खा लेती है। इसमें बड़ी गम्भीरता चाहिए और अभिमान नहीं आना चाहिए – मैं यह करता हूँ। जितना हो सके हर बात में माताओं को आगे रखना है। माता का रिगॉर्ड रखना है। सब चाबी माता के हाथ में होनी चाहिए। माता द्वारा समाचार आना चाहिए। हाँ, कहाँ-कहाँ कन्या अथवा माता से कुमार होशियार होते हैं। उनको फिर राय लिखनी है। हुक्म सरकार का राज्य रानी का है। पहले रानी, फिर राजा। पहले माता गुरू चाहिए। पुरुष को गुरू बनने का कायदा नहीं। माता को आगे करना है। लॉ ऐसे कहता है। भल कहाँ पुरुष भी निमित्त बनते हैं, जो माताओं को ज्ञान में ले आते हैं परन्तु मैजॉरिटी माताओं की है। अहंकार नहीं होना चाहिए – मैं सब जानता हूँ, मैं होशियार हूँ। होशियार माताओं को बनाना है। माता द्वारा सेन्टर आदि चलाना है। अन्त में सन्यासी आदि को भी माताओं के ही बाण लगने हैं। तो कायदेसिर चलना है। परमपिता परमात्मा की निंदा करने वाले ऊंच पद पा नहीं सकेंगे। बाबा सावधान सबको करते हैं। बहुत मीठा बनना है। कोई की बात पसन्द नहीं आती है तो एक कान से सुन दूसरे से निकाल दो। क्रोध बहुत नुकसान करता है। कोई-कोई लिखते हैं – काम से क्रोध को क्यों नहीं तीखा रखें। परन्तु नहीं। काम तो आदि-मध्य-अन्त दु:ख को प्राप्त कराता है। पतित पावन एक ही बाप गाया हुआ है। सन्यासी पावन नहीं बना सकते। तो तुम नई बातें सुनते हो ऊंच ते ऊंच भगवान् बैठ तुमको पढ़ाते हैं। उनको ही श्री श्री कहा जाता है। फिर मनुष्य सृष्टि में श्री लक्ष्मी, श्री नारायण, श्री राम, श्री सीता को कहते हैं। अच्छा, उन्हों को ऐसा श्रेष्ठ किसने बनाया? श्री श्री शिवबाबा ने। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) आपस में एकमत होकर रहना है। एक दो को रिगॉर्ड देना है। रूठकर कभी भी पढ़ाई नहीं छोड़नी है।

2) क्रोध बहुत नुकसान-कारक है इसलिए जो बात पसन्द नहीं आती है, उसे एक कान से सुन दूसरे से निकाल देना है। क्रोध नहीं करना है। बहुत-बहुत मीठा बनना है।

वरदान:- बाह्यमुखता के रसों की आकर्षण के बन्धन से मुक्त रहने वाले जीवनमुक्त भव
बाह्यमुखता अर्थात् व्यक्ति के भाव-स्वभाव और व्यक्त भाव के वायब्रेशन, संकल्प, बोल और संबंध, सम्पर्क द्वारा एक दो को व्यर्थ की तरफ उकसाने वाले, सदा किसी न किसी प्रकार के व्यर्थ चिन्तन में रहने वाले, आन्तरिक सुख, शान्ति और शक्ति से दूर…..यह बाह्यमुखता के रस भी बाहर से बहुत आकर्षित करते हैं, इसलिए पहले इसको कैंची लगाओ। यह रस ही सूक्ष्म बंधन बन सफलता की मंजिल से दूर कर देते हैं, जब इन बंधनों से मुक्त बनो तब कहेंगे जीवनमुक्त।
स्लोगन:- जो अच्छे बुरे कर्म करने वालों के प्रभाव के बन्धन से मुक्त साक्षी व रहमदिल है वही तपस्वी है।
Font Resize