26 september ki murli

TODAY MURLI 26 SEPTEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 26 September 2020

26/09/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, never have any doubt about the Father who is making you become like a diamond. To have a doubtful intellect means to cause oneself a loss.
Question: What is the main basis of passing the examination of this study for becoming a deity from a human being?
Answer: Faith: there has to be courage for the intellect to have faith. Maya breaks this courage. She makes your intellect into a doubting intellect. While moving along, if you have any doubt about this study or the Supreme Teacher who is teaching you, you cause yourself and others a great loss.
Song: You are the Ocean of Love. We thirst for one drop.

Om shanti. Shiv Baba explains to the spiritual children. You children praise the Father and say: You are the Ocean of Love. He is also called the Ocean of Knowledge. Only the One is the Ocean of Knowledge. The rest are called ignorant, because this is a play about knowledge and ignorance. Only the Supreme Father, the Supreme Soul, has knowledge. It is with this knowledge that the new world is being established. It isn’t that He creates a new world; the world is imperishable. It’s just that the old world is changed and made new. It isn’t that annihilation takes place. The whole world is never destroyed. The world is old and is being changed and made into a new world. The Father has explained that this home in which you are sitting is old. You know that we will go to the new home. Similarly, old Delhi is now going to be destroyed. A new one will be made to replace it. Now, how will it be made new? First of all, those who are worthy of staying there are needed. In the new world, there are those who are full of all virtues. You children have your aim and objective. In a school too there is an aim and objective. Those who study understand what they are going to become: “I will become a surgeon or “I will become a barrister. You understand that you have come here to change from ordinary humans into deities. No one can sit in a school without having an aim and objective. However, this school is so wonderful that, whilst understanding the aim and objective and studying, some then leave this study. They start thinking that this study is wrong, that that is not their aim and objective, that this can never happen. They also develop doubt about the One who is teaching them. Sometimes, in worldly studies, when students don’t have enough money to study, or they don’t have courage, they leave their studies. You wouldn’t say that the knowledge to become a barrister is wrong or that the one who is teaching is wrong. Here, human beings have wonderful intellects! Because you develop doubt about the study, you say that this study is wrong, that God isn’t teaching it, that you cannot claim a kingdom etc., that these are all lies. By thinking in this way, many children leave this study. Everyone would say: You claimed that God was teaching you, through which human beings change into deities. What happened then? You say: No! no! It was all lies. You say that you can’t understand the aim and objective. There were some who were studying with faith. Then, as soon as they started to have doubts, they stopped studying. How did they have faith and who then put doubts into their intellects? It would be said that if that person had still been studying, he could have claimed a high status. Many continue to study. While studying to become barristers, some drop out halfway, whereas others continue to study and become barristers. Some study and pass, whereas others fail; they then attain a low status. This is an important examination. You need a lot of courage to pass it. First, you need to have courage for your intellect to have faith. Maya is such that, one minute you have faith and the next minute, you have doubtful intellects. Many come here to study, but some have dull intellects; they pass numberwise. A list is printed in the newspapers too. It is the same here. Many come here to study. Some have good intellects and others have dull intellects. Because they have dull intellects, they develop doubt and leave. Then they cause harm to others too. It is said: Those who have doubtful intellects are led to destruction. They cannot claim a high status. If you have faith but don’t study fully, you cannot pass because your intellect is of no use. You would be unable to imbibe knowledge. You forget that you are a soul. The Father says: I am the Supreme Father of you souls. You children know that the Father has come. Some experience many obstacles and thereby develop doubt. They then say: I don’t have faith in such-and-such a teacher. No matter what the Brahmin teachers are like, you should still study, should you not? If your teacher doesn’t teach you well, you might think of freeing her from teaching you, but you still have to study. This is the Father’s study. The Supreme Teacher is teaching you. The Brahmin teachers too give His knowledge. Therefore, you have to pay attention to this study. Unless you study, you will be unable to pass the examination. However, if your faith in the Father is broken, you stop studying. While studying, if you start to have any doubts about the Teacheras to whether you will receive a certain status through Him or not, you stop studying. You then also spoil it for others. When you cause defamation, there is more harm done. A huge loss is experienced. The Father says: If anyone commits a sin here, he has to experience one hundredfold punishment, because that one would become an instrument to spoil many others. To whatever extent you had become a charitable soul, you would then become a sinful soul. You become charitable souls through this study. Only the one Father makes you into charitable souls. If some are unable to study, there is definitely something not right. They then say: Whatever is my fortune! So, what can I do? It is as though they have heartfailure. Those who came here and died a living death then go back to a living death in Ravan’s kingdom. They are unable to make their lives like a diamond. When human beings have heartfailure, they take another birth. Here, when they have heartfailure, they go to the devilish community. This is your birth of dying alive. You come here to belong to the Father, in order to go to the new world. Souls will go there. When I, a soul, renounce the consciousness of this body, it is understood that I am soul conscious. I am one thing and my body is something else. A soul leaves one body and takes another. Therefore, each soul must definitely be a separate entity. You souls understand that you are establishing heaven in Bharat by following shrimat. The art of changing humans into deities has to be learnt. You children have been told that there is no other company of the Truth. Only the one Supreme Soul is called the Truth. His name is Shiva and He alone establishes the golden age. The period of the iron age definitely has to come to an end. How the cycle of the whole world turns is very clear in the picture of the cycle. In order to become deities you belong to the Father at the confluence age. If you leave the Father, you end up in the iron age. If someone has doubts about being a Brahmin, he goes and becomes part of the shudra clan. In that case, he cannot become a deity. The Father also explains how the foundationsare being laid for the establishment of heaven. There is first the foundation ceremony and then the opening ceremony. Here, everything is incognito. You know that you are getting ready to go to heaven. There will then be no mention of hell. You definitely have to study for as long as you live, until the end. Only the one Father who purifies you is the Purifier. You children now understand that this is the confluence age, when the Father comes to purify you. You should write: It is at this most elevated confluence age that ordinary humans change into Narayan. It is also written that this is your Godly birthright. The Father is now giving you divine vision. The soul knows that this cycle of 84 has now come to an end. The Father sits here and explains to souls. The soul studies but he still becomes body conscious again and again, because there has been body consciousness for half the cycle. Therefore, it takes time to become soul conscious. The Father is sitting here and you have been given time. The lifespan of Brahma is said to be 100 years or it could be less. However, if Brahma were to leave, it doesn’t mean that establishment would not take place. You, the army, are still sitting here. The Father has given you that mantra. You do have to study. It is in your intellects how the world cycle turns. You have to stay on the pilgrimage of remembrance. It is by having remembrance that your sins will be absolved. On the path of devotion you have all been performing sinful acts. The two globes of the old and new worlds are in front of you. You can write: Death to the old world, the kingdom of Ravan, and victory to the new world, the path of knowledge, the kingdom of Rama. Those who were worthy of being worshipped have become worshippers. Krishna was beautiful and worthy of being worshipped. However, later on, he became an ugly worshipper in Ravan’s kingdom. It is easy to explain this. When worshipping first began, they created a huge diamond lingam. It was most valuable because the Father had made you so wealthy. He Himself is the Diamond. Therefore, He also makes souls become like diamonds. You should make a diamond image of Him and keep that, should you not? A diamond is always placed in the centre. In comparison, an emerald, etc. would not be as valuable. This is why a diamond is placed in the centre. Eight jewels are made into the beads of the rosary of victory by Him. The most value is given to a diamond. All the rest become numberwise. It is Shiv Baba who makes you this. None of these things can be explained by anyone but the Father. While studying, some are amazed at this knowledge. They say, “Baba! Baba!” Then they leave! Once you call Shiv Baba “Baba” never leave Him. Otherwise, it would be said to be your fortune! Those who don’t have much in their fortune will perform such acts that they receive one hundredfold punishment. In order to become a charitable soul, you do have to make effort. Then, when you commit sin, that sin becomes one hundredfold; you then become midgets; you can’t grow. Because one hundredfold punishment is added, your stage doesn’t become powerful. Why should you have any doubt about the Father through whom you become like diamonds? If you leave the Father for any reason, you would be called a most unfortunate soul. Wherever you may be living, you have to remember the Father and you will then be liberated from punishment. You come here to become pure from impure. Because you have performed certain types of acts in the past, there is a lot of suffering through your bodies. You are now being liberated from this for half a cycle. Check yourself to see to what extent you are progressing and serving others. You can write at the top of the picture of Lakshmi and Narayan: This is the kingdom of peace in the world, which is now being established. This is your aim and objective. There, there is one hundred percent purity, peace and happiness. There is no other religion in their kingdom. Therefore, all the religions that exist now will definitely be destroyed. Great wisdom is required to explain these things. Otherwise, you explain according to your stage. Sit in front of the pictures and think about all of these things. They have all been explained to you. Since you have understood them, you have to explain them to others. This is why Baba inspires you to open museums. “Gateway to Heaven” is a very good name. Those are the “Delhi Gate” and the “India Gate“. This is the gate to heaven. You are now opening the gates to heaven. People have become just as confused on the path of devotion as they do in a maze: no one can find the way out. Everyone has become trapped in the kingdom of Maya. The Father has now come to release you from that. Some don’t want to be released, so what can the Father do? This is why the Father says: If you want to see the most unfortunate ones, see those who stop studying here. They have doubtful intellects and kill themselves for many births. This happens when their fortune becomes spoilt. When there are bad omens, then, instead of becoming beautiful, they become ugly. It is incognito souls that study. Souls do everything through their bodies. Souls cannot do anything without bodies. It takes effort to consider yourself to be a soul. When you don’t have the faith that you are a soul, you become body conscious. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost, now-found children, love, remembrance and Good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. The teachings taught by the Supreme Teacher change us from human beings into Narayan. Have this faith and pay full attention toyour study. Don’t see the teacher who is teaching you.
  2. Make effort to become soul conscious. Since you have died a living death, let go of all consciousness of your body. Become a charitable soul. Don’t perform any sinful acts.
Blessing: May you be a master creator who gains victory over adverse situations by remaining stable on the seat of your original stage.
Adverse situations come through matter and so a situation is a creation and you, with your own stage, are a creator. A master creator or a master almighty authority cannot be defeated; it is impossible. When someone leaves his seat, he can be defeated. To leave your seat means to become powerless. On the basis of your seat, you automatically receive power. Those who get off their seat then get into the dust of Maya. BapDada’s beloved Brahmin children who have a birth in which they have died alive can never play in the dust of body consciousness.
Slogan: Determination melts away strong sanskars like wax.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 26 SEPTEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 26 September 2020

Murli Pdf for Print : – 

26-09-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
”मीठे बच्चे – बाप जो तुम्हें हीरे जैसा बनाते हैं, उनमें कभी भी संशय नहीं आना चाहिए, संशय-बुद्धि बनना माना अपना नुकसान करना”
प्रश्नः- मनुष्य से देवता बनने की पढ़ाई में पास होने का मुख्य आधार क्या है?
उत्तर:- निश्चय। निश्चयबुद्धि बनने का साहस चाहिए। माया इस साहस को तोड़ती है। संशयबुद्धि बना देती है। चलते-चलते अगर पढ़ाई में वा पढ़ाने वाले सुप्रीम टीचर में संशय आया तो अपना और दूसरों का बहुत नुकसान करते हैं।
गीत:- तू प्यार का सागर है…….. Audio Player

ओम् शान्ति। रूहानी बच्चों प्रति शिवबाबा समझा रहे हैं, तुम बच्चे बाप की महिमा करते हो तू प्यार का सागर है। उन्हें ज्ञान का सागर भी कहा जाता है। जबकि ज्ञान का सागर एक है तो बाकी को कहेंगे अज्ञान क्योंकि ज्ञान और अज्ञान का खेल है। ज्ञान है ही परमपिता परमात्मा के पास। इस ज्ञान से नई दुनिया स्थापन होती है। ऐसे नहीं कि कोई नई दुनिया बनाते हैं। दुनिया तो अविनाशी है ही। सिर्फ पुरानी दुनिया को बदल नया बनाते हैं। ऐसे नहीं कि प्रलय हो जाती है। सारी दुनिया कभी विनाश नहीं होती। पुरानी है वह बदलकर नई बन रही है। बाप ने समझाया है यह पुराना घर है, जिसमें तुम बैठे हो। जानते हो हम नये घर में जायेंगे। जैसे पुरानी देहली है। अब पुरानी देहली मिटनी है, उसके बदले अब नई बननी है। अब नई कैसे बनती है? पहले तो उसमें रहने वाले लायक चाहिए। नई दुनिया में तो होते हैं सर्वगुण सम्पन्न……. तुम बच्चों को यह एम ऑब्जेक्ट भी है। पाठशाला में एम ऑब्जेक्ट तो रहती है ना। पढ़ने वाले जानते हैं – मैं सर्जन बनूँगा, बैरिस्टर बनूँगा….। यहाँ तुम जानते हो हम आये हैं – मनुष्य से देवता बनने। पाठशाला में एम ऑब्जेक्ट बिगर तो कोई बैठ न सकें। परन्तु यह ऐसी वन्डरफुल पाठशाला है जो एम ऑब्जेक्ट समझते हुए, पढ़ते हुए फिर भी पढ़ाई को छोड़ देते। समझते हैं यह रांग पढ़ाई है। यह एम ऑब्जेक्ट है नहीं, ऐसे कभी हो नहीं सकता। पढ़ाने वाले में भी संशय आ जाता है। उस पढ़ाई में तो पढ़ नहीं सकते हैं अथवा पैसा नहीं है, हिम्मत नहीं है तो पढ़ना छोड़ देते हैं। ऐसे तो नहीं कहेंगे कि बैरिस्टरी की नॉलेज ही रांग है, पढ़ाने वाला रांग है। यहाँ तो मनुष्यों की वन्डरफुल बुद्धि है। पढ़ाई में संशय पड़ जाता है तो कह देते यह पढ़ाई रांग है। भगवान पढ़ाते ही नहीं, बादशाही आदि कुछ नहीं मिलती…. यह सब गपोड़े हैं। ऐसे भी बहुत बच्चे पढ़ते-पढ़ते फिर छोड़ देते हैं। सब पूछेंगे तुम तो कहते थे हमको भगवान पढ़ाते हैं, जिससे मनुष्य से देवता बनते हैं फिर यह क्या हुआ? नहीं, नहीं वह सब गपोड़े थे। कहते यह एम ऑब्जेक्ट हमको समझ में नहीं आती। कई हैं जो निश्चय से पढ़ते थे, संशय आने से पढ़ाई छोड़ दी। निश्चय कैसे हुआ फिर संशयबुद्धि किसने बनाया? तुम कहेंगे यह अगर पढ़ते तो बहुत ऊंच पद पा सकते थे। बहुत पढ़ते रहते हैं। बैरिस्टरी पढ़ते-पढ़ते आधा पर छोड़ देते, दूसरे तो पढ़कर बैरिस्टर बन जाते हैं। कोई पढ़कर पास होते हैं, कोई नापास हो जाते हैं। फिर कुछ न कुछ कम पद पा लेते हैं। यह तो बड़ा इम्तहान है। इसमें बहुत साहस चाहिए। एक तो निश्चयबुद्धि का साहस चाहिए। माया ऐसी है अभी-अभी निश्चय, अभी संशय बुद्धि बना देती है। आते बहुत हैं पढ़ने के लिए परन्तु कोई डल बुद्धि होते हैं, नम्बरवार पास होते हैं ना। अखबार में भी लिस्ट निकलती है। यह भी ऐसे हैं, आते बहुत हैं पढ़ने के लिए। कोई अच्छी बुद्धि वाले हैं, कोई डल बुद्धि हैं। डल बुद्धि होते-होते फिर कोई न कोई संशय में आकर छोड़ जाते हैं। फिर औरों का भी नुकसान करा देते हैं। संशयबुद्धि विनशन्ती कहा जाता है। वह ऊंच पद पा न सकें। निश्चय भी है परन्तु पूरा पढ़ते नहीं तो थोड़ेही पास होंगे क्योंकि बुद्धि कोई काम की नहीं है। धारणा नहीं होती है। हम आत्मा हैं यह भूल जाते हैं। बाप कहते हैं मैं तुम आत्माओं का परमपिता हूँ। तुम बच्चे जानते हो बाप आये हैं। कोई को बहुत विघ्न पड़ते हैं तो उनको संशय आ जाता है, कह देते हमको फलानी ब्राह्मणी से निश्चय नहीं बैठता है। अरे ब्राह्मणी कैसी भी हो तुमको पढ़ना तो चाहिए ना। टीचर अच्छा नहीं पढ़ाते हैं तो सोचते हैं इनको पढ़ाने से छुड़ा देवें। लेकिन तुमको तो पढ़ना है ना। यह पढ़ाई है बाप की। पढ़ाने वाला वह सुप्रीम टीचर है। ब्राह्मणी भी उनकी नॉलेज सुनाती है तो अटेन्शन पढ़ाई पर होना चाहिए ना। पढ़ाई बिना इम्तहान पास नहीं कर सकेंगे। लेकिन बाप से निश्चय ही टूट पड़ता है तो फिर पढ़ाई छोड़ देते हैं। पढ़ते-पढ़ते टीचर में संशय आ जाता है कि इनसे यह पद मिलेगा या नहीं तो फिर छोड़ देते हैं। दूसरों को भी खराब कर देते, ग्लानि करने से और ही नुकसान कर देते हैं। बहुत घाटा पड़ जाता है। बाप कहते हैं कि यहाँ अगर कोई पाप करते हैं तो उनको सौगुणा दण्ड हो जाता है। एक निमित्त बनता है, बहुतों को खराब करने। तो जो कुछ पुण्य आत्मा बना फिर पाप आत्मा बन जाते। पुण्य आत्मा बनते ही हैं इस पढ़ाई से और पुण्य आत्मा बनाने वाला एक ही बाप है। अगर कोई नहीं पढ़ सकते हैं तो जरूर कोई खराबी है। बस कह देते जो नसीब, हम क्या करें। जैसेकि हार्टफेल हो जाते हैं। तो जो यहाँ आकर मरजीवा बनते हैं, वह फिर रावण राज्य में जाकर मरजीवा बनते हैं। हीरे जैसी जीवन बना नहीं सकते। मनुष्य हार्टफेल होते हैं तो जाकर दूसरा जन्म लेंगे। यहाँ हार्टफेल होते तो आसुरी सम्प्रदाय में चले जाते। यह है मरजीवा जन्म। नई दुनिया में चलने के लिए बाप का बनते हैं। आत्मायें जायेंगी ना। हम आत्मा यह शरीर का भान छोड़ देंगे तो समझेंगे यह देही-अभिमानी हैं। हम और चीज़ हैं, शरीर और चीज हैं। एक शरीर छोड़ दूसरा लेते हैं तो जरूर अलग चीज़ हुई ना, तुम समझते हो हम आत्मायें श्रीमत पर इस भारत में स्वर्ग की स्थापना कर रही हैं। यह मनुष्य को देवता बनाने का हुनर सीखना होता है। यह भी बच्चों को समझाया है, सतसंग कोई भी नहीं है। सत्य तो एक ही परमात्मा को कहा जाता है। उनका नाम है शिव, वही सतयुग की स्थापना करते हैं। कलियुग की आयु जरूर पूरी होनी है। सारी दुनिया का चक्र कैसे फिरता है, यह गोले के चित्र में क्लीयर है। देवता बनने के लिए संगमयुग पर बाप के बनते हैं। बाप को छोड़ा तो फिर कलियुग में चले जायेंगे। ब्राह्मणपन में संशय आ गया तो जाकर शूद्र घराने में पड़ेंगे। फिर देवता बन न सकें।

बाप यह भी समझाते हैं – कैसे अभी स्वर्ग की स्थापना का फाउन्डेशन पड़ रहा है। फाउन्डेशन की सेरीमनी फिर ओपनिंग की भी सेरीमनी होती है। यहाँ तो है गुप्त। यह तुम जानते हो हम स्वर्ग के लिए तैयार हो रहे हैं। फिर नर्क का नाम नहीं रहेगा। अन्त तक जहाँ जीना है, पढ़ना है जरूर। पतित-पावन एक ही बाप है जो पावन बनाते हैं।

अभी तुम बच्चे समझते हो यह है संगमयुग, जब बाप पावन बनाने आते हैं। लिखना भी है पुरूषोत्तम संगमयुग में मनुष्य नर से नारायण बनते हैं। यह भी लिखा हुआ है-यह तुम्हारा ईश्वरीय जन्म सिद्ध अधिकार है। बाप अभी तुमको दिव्य दृष्टि देते हैं। आत्मा जानती है हमारा 84 का चक्र अब पूरा हुआ है। आत्माओं को बाप बैठ समझाते हैं। आत्मा पढ़ती है भल देह-अभिमान घड़ी-घड़ी आ जायेगा क्योंकि आधाकल्प का देह-अभिमान है ना। तो देही-अभिमानी बनने में टाइम लगता है। बाप बैठा है, टाइम मिला हुआ है। भल ब्रह्मा की आयु 100 वर्ष कहते हैं या कम भी हो। समझो ब्रह्मा चला जाए, ऐसे तो नहीं स्थापना नहीं होगी। तुम सेना तो बैठी हो ना। बाप ने मंत्र दे दिया है, पढ़ना है। सृष्टि का चक्र कैसे फिरता है, यह भी बुद्धि में है। याद की यात्रा पर रहना है। याद से ही विकर्म विनाश होंगे। भक्ति मार्ग में सबसे विकर्म हुए हैं। पुरानी दुनिया और नई दुनिया दोनों के गोले तुम्हारे सामने हैं। तो तुम लिख सकते हो पुरानी दुनिया रावण राज्य मुर्दाबाद, नई दुनिया ज्ञान मार्ग रामराज्य जिन्दाबाद। जो पूज्य थे वही पुजारी बने हैं। कृष्ण भी पूज्य गोरा था फिर रावण राज्य में पुजारी सांवरा बन जाता है। यह समझाना तो सहज है। पहले-पहले जब पूजा शुरू होती है तो बड़े-बड़े हीरे का लिंग बनाते हैं, मोस्ट वैल्युबल होता है क्योंकि बाप ने इतना साहूकार बनाया है ना। वह खुद ही हीरा है, तो आत्माओं को भी हीरे जैसा बनाते हैं, तो उनको हीरा बनाकर रखना चाहिए ना। हीरा हमेशा बीच में रखते हैं। पुखराज आदि के साथ तो उनकी वैल्यु नहीं रहेगी इसलिए हीरे को बीच में रखा जाता है। इन द्वारा 8 रत्न विजय माला के दाने बनते हैं, सबसे जास्ती वैल्यु होती है हीरे की। बाकी तो नम्बरवार बनते हैं। बनाते शिवबाबा हैं, यह सब बातें बाप बिगर तो कोई समझा न सके। पढ़ते-पढ़ते आश्चर्यवत् बाबा-बाबा कहन्ती फिर चले जाते हैं। शिवबाबा को बाबा कहते हैं, तो उनको कभी नहीं छोड़ना चाहिए। फिर कहा जाता तकदीर। किसकी तकदीर में जास्ती नहीं है तो फिर कर्म ही ऐसे करते हैं तो सौगुणा दण्ड चढ़ जाता है। पुण्य आत्मा बनने के लिए पुरूषार्थ कर और फिर पाप करने से सौगुणा पाप हो जाता है फिर जामड़े (बौने) रह जाते हैं, वृद्धि को पा नहीं सकते। सौगुणा दण्ड एड होने से अवस्था जोर नहीं भरती। बाप जिससे तुम हीरे जैसा बनते हो उनमें संशय क्यों आना चाहिए। कोई भी कारण से बाप को छोड़ा तो कमबख्त कहेंगे। कहाँ भी रहकर बाप को याद करना है, तो सज़ाओं से छूट जायें। यहाँ तुम आते ही हो पतित से पावन बनने। पास्ट के भी कोई ऐसे कर्म किये हुए हैं तो शरीर की भी कर्म भोगना कितना चलती है। अभी तुम तो आधाकल्प के लिए इनसे छूटते हो। अपने को देखना है हम कहाँ तक अपनी उन्नति करते हैं, औरों की सर्विस करते हैं? लक्ष्मी-नारायण के चित्र पर भी ऊपर में लिख सकते हैं कि यह है विश्व में शान्ति की राजाई, जो अब स्थापन हो रही है। यह है एम आब्जेक्ट। वहाँ 100 परसेन्ट पवित्रता, सुख-शान्ति है। इनके राज्य में दूसरा कोई धर्म होता नहीं। तो अभी जो इतने धर्म हैं उनका जरूर विनाश होगा ना। समझाने में बड़ी बुद्धि चाहिए। नहीं तो अपनी अवस्था अनुसार ही समझाते हैं। चित्रों के आगे बैठ ख्यालात चलाने चाहिए। समझानी तो मिली हुई है। समझते हैं तो समझाना है इसलिए बाबा म्युज़ियम खुलवाते रहते हैं। गेट वे टू हेविन, यह नाम भी अच्छा है। वह है देहली गेट, इन्डिया गेट। यह फिर है स्वर्ग का गेट। तुम अभी स्वर्ग का गेट खोल रहे हो। भक्ति मार्ग में ऐसा मूंझ जाते हैं जैसे भूल-भुलैया में मूंझ जाते हैं। रास्ता किसको मिलता नहीं। सब अन्दर फँस जाते हैं – माया के राज्य में। फिर बाप आकर निकालते हैं। कोई को निकलने दिल नहीं होती तो बाप भी क्या करेंगे इसलिए बाप कहते हैं महान् कमबख्त भी यहाँ देखो, जो पढ़ाई को छोड़ देते। संशय बुद्धि बन जन्म-जन्मान्तर के लिए अपना खून कर देते हैं। तकदीर बिगड़ती है तो फिर ऐसा होता है। ग्रहचारी बैठने से गोरा बनने बदले काले बन जाते हैं। गुप्त आत्मा पढ़ती है, आत्मा ही शरीर से सब कुछ करती है, आत्मा शरीर बिगर तो कुछ कर नहीं सकती। आत्मा समझने की ही मेहनत है। आत्मा निश्चय नहीं कर सकते तो फिर देह-अभिमान में आ जाते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सुप्रीम टीचर की पढ़ाई हमें नर से नारायण बनाने वाली है, इसी निश्चय से अटेन्शन देकर पढ़ाई पढ़नी है। पढ़ाने वाली टीचर को नहीं देखना है।

2) देही-अभिमानी बनने का पुरूषार्थ करना है, मरजीवा बने हैं तो इस शरीर के भान को छोड़ देना है। पुण्य आत्मा बनना है, कोई भी पाप कर्म नहीं करना है।

वरदान:- स्व-स्थिति की सीट पर स्थित रह परिस्थियों पर विजय प्राप्त करने वाले मास्टर रचता भव
कोई भी परिस्थिति, प्रकृति द्वारा आती है इसलिए परिस्थिति रचना है और स्व-स्थिति वाला रचयिता है। मास्टर रचता वा मास्टर सर्वशक्तिवान कभी हार खा नहीं सकते। असम्भव है। अगर कोई अपनी सीट छोड़ते हैं तो हार होती है। सीट छोड़ना अर्थात् शक्तिहीन बनना। सीट के आधार पर शक्तियाँ स्वत: आती हैं। जो सीट से नीचे आ जाते उन्हें माया की धूल लग जाती है। बापदादा के लाडले, मरजीवा जन्मधारी ब्राह्मण कभी देह अभिमान की मिट्टी में खेल नहीं सकते।
स्लोगन:- दृढ़ता कड़े संस्कारों को भी मोम की तरह पिघला (खत्म कर) देती है।

TODAY MURLI 26 SEPTEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 26 September 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 25 September 2018 :- Click Here

26/09/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the play is now coming to an end and you have to return home. Therefore, continue to forget the costume of your body. Consider yourself to be a bodiless soul.
Question: Which wonderful game only takes place at the confluence age and not in any other age?
Answer: That of divorcing. Rama divorces you from Ravan. Ravan then divorces you from Rama. This is a very wonderful game. By forgetting the Father, you are shot by Maya. This is why the Father gives you the teachings: Children, stabilise in the religion of the self. Continue to forget your body and all bodily religions. Continue to make a lot of effort to have remembrance. Become soul conscious.
Song: The rain of knowledge is for those who are with the Beloved. 

Om shanti. You sweetest children heard the song, numberwise, according to your efforts. It is said to be numberwise in every situation because this is a collegeor university. Together with that, it is a true satsang, the company of the Truth. Only the One is called the Truth. He only comes here once. At this time, you truly say that you are in the company of the Truth. Only you Brahmins personally sit in front of the Truth who is called the Ocean of Knowledge. It is sung: The rain of knowledge is for those who are with the Beloved. The Father is called the Beloved. The rain of knowledge is of the Beloved who is in front of you children. You children know that the Ocean of Knowledge, the Purifier, is now truly personally in front of you. We are becoming pure from impure, flowers from thorns. When we have become flowers, our bodies will not remain. Buds also open gradually; they don’t open instantly. They open gradually and become complete flowers. Now, no one has yet become a complete flower. That would be the karmateet stage. Only at the end will you become soul conscious. All of you are now continuing to make effort. The Father is the parlokik Father. These two are the alokik mother and father of the confluence age. Some are thorns and others are buds. It takes time for buds to open. All of you are numberwise buds who are to become flowers. Some are in full bloom and some have only half opened. One day, they will definitely open up completely. This is a garden. You know that you have become buds from thorns and are becoming flowers; you are now making effort. Some buds just die. Some bloom a little and then die. There are very strong storms of Maya. Even when centres open, some are finished quickly; they fall. Maya is very powerful. This is a tug of war between Rama and Ravan. It is said: Rama, Rama. It isn’t the Rama of the silver age they remember; they say “Rama, Rama” for God. Ravan is compared against Rama. Rama is the Father and Ravan is Maya, the enemy. Maya too is very powerful. This is a game of divorcing one another. Rama makes you renounce Maya, Ravan. Maya then makes you renounce the Father, Rama. The Father says: Make your intellect renounce your body and all your bodily relations. Renounce all bodily religions. Forget, “I am So-and-so and I belong to this religion”, and stabilise yourself in the religion of the self. Renounce all bodily religions and consider yourself to be alone. You are made to renounce everything of this world. Become bodiless. Belong to Me and remember Me. When you forget the Father, you are shot by Maya. Continue to make a lot of effort to remember the Father. Maya is also very powerful. After you belong to the Father, Maya makes you renounce everything and takes you away from the Father. No one should divorce the Father. For half the cycle, you have been remembering Me. Only you are complete devotees. You are the ones who started devotion. The Father comes and makes you renounce Maya. He says: Consider yourselves to be souls. Continue to forget those costume (bodies). That’s all! We now have to return home. There are actors in those plays too. They too are aware that in just five to ten min utes their play will come to an end and that they will then return home. This is in their intellects when the play is about to end, not at the beginning. You also understand that your 84 births have now come to an end. How much time now remains? You ask: When will we go to heaven or the land of happiness? However, the Father says: This is said to be an invaluable life. You are doing very important service by following shrimat. Only you Pandavas follow shrimat. These things are not mentioned in the Gita etc. This Baba has studied many scriptures etc. and adopted many gurus. You know the activities of all the actors. It is later that they sit and write the scriptures. What do they know? This play is predestined in the drama. The Gita and the Bhagawad will all repeat at their own time. The Gita is the mother and father. The Gita is said to be the mother. No other religious book would be called a mother. This is called the Mother Gita. Achcha, Who created it? First of all, a husband adopts a wife. When a man gets married, he says: This is my wife. So, he is a creator. Then, when they have children, he says: These are my children. The children would say: This is our father. You are the mouth-born creation of Baba. You say: Baba, we belong to You. For so long, we have continued to follow Maya’s directions and we will now follow Your directions. Maya doesn’t give you directions in words. Maya just makes you act in that way. The Father sits here and explains to you in words. All of you are residents of Bharat. You know that your Bharat was the crown. There are now neither of the crowns – neither the holy one nor the unholy one. It is said: Her HolinessHis Holiness. This is said to both men and women. ‘His Holiness  is said to sannyasis. However, that is not the family path. On the family path, both husband and wife remain pure. In the golden age, both are pure anyway and that is called completely pure. Both the soul and body remain pure. Here, in the impure world, neither can be pure. So, you are now personally listening to the Father and this is called the rain of knowledge. That is the rain of poison and this is the rain of the nectar of knowledge. It is sung: Why should we renounce nectar and drink poison? You are now receiving the nectar of knowledge. On the path of devotion, they simply continue to sing this. You are now receiving the nectar of knowledge in a practical way. It is because of this that there is the name Amritsar (lake of nectar). However, there are many such lakes. There is also the Mansarovar lake – that is not a lake of human beings! This one is a lake of the nectar of knowledge and he is also called the Mansarovar of knowledge. There is also the Ocean of Knowledge. Some are rivers, some are canals and some are little ponds: it is numberwise. You children understand that the Father explained in the previous cycle and is now also explaining once again. You have the faith that you are studying Raja Yoga from Baba through which you became the masters of heaven in the previous cycle too. The subjects too would say that they are masters. The people of Bharat say that their Bharat was the highest of all. Our Bharat is now the lowest of all. Our Bharat used to be very elevated but our Bharat has now become very degraded. This would not be said of any other land. Those of all religions know that Bharat is an ancient land and that they didn’t exist at that time. In the golden age, there would definitely be just the people of Bharat. It is remembered that 3000 years before Christ, there was just Bharat and no other religion. There was new Bharat in the new world. Bharat is now old. Bharat was heaven, but this doesn’t sit in anyone’s intellect fully. This is something that is very easy to understand. The Father is explaining to you. You perform this task in a practical way. You become the true Vyas, numberwise, according to your efforts. You have to relate the true Gita. You don’t have to pick up any religious books in your hands. You are Rup and Basant. You souls are listening to the knowledge of the Gita from the Father. You have just the one Father in your intellects. You don’t have any other gurus or sages or holy men in your intellects. You would say that you listen to the Ocean of Knowledge, the Supreme Father, the Supreme Soul, who is also called Sat Shri Akal. These words are so sweet. Akali people (Sikhs) say very loudly: Sat Shri Akal. Here, you children perform the dance of knowledge. This is why it is said: Those who have truth dance in happiness. Later, you will go there and dance in happiness. Meera used to dance in trance, but she was performing devotion. You do not perform devotion. The Father, the Bestower of Divine Vision, Himself, is teaching you. Many children continue to have visions and so people think: This is magic; children continue to wander around (in trance) while studying. That is just a game for you; that is not a subject. There are no marks in that. There are no marks for playing games. Here, too, those who continue to play games don’t receive marks in knowledge. Those are games; they are called subtle games. Others are gross games whereas those are subtle games. Those who perform dances etc. don’t receive marks. This is why Baba says: Knowledge is better than trance. It is elevated. In trance, there is just the vision of the aim and objective. This is Raja Yoga. You have the aim and objective in your intellects. They see with their eyes that they will become so-and-so. Here, this is your future aim and objective. You have to become princes and princesses. You then become emperors and empresses. What would someone who sits in a college without any aim or objective be called? No other spiritual gatherings in Bharat have an aim or objective. This can be called a university and also a school. A spiritual gathering (satsang) can never be called a school. You children know that you are studying in the Godf atherly University of the Purifier. You are making the whole universe into pure heaven. You are making this universe into heaven for yourselves. Those who make it like that will then rule there. It isn’t that everyone will become a master of heaven. Those who have become complete residents of hell, who have performed devotion from the copper age, are the only ones who will become residents of heaven. All other human beings will be crushed like mustard seeds and destroyed and the souls will return home to the Father. Such a big destruction has to take place. There are now so many people. How many are you going to sit and count? No one can count this accurately. There are so many human beings in the world. All of them will be destroyed. The example of the banyan tree has been shown to you children. There is a very big tree in Calcutta; it has no foundation, but the rest of the tree is standing. The deity religion exists now but its name has disappeared. You wouldn’t say that it has no foundation. There would at least be some name or trace of it, even if it is decayed. ‘Disappeared’ means that only a little bit of it remains. There are its images. Lakshmi and Narayan used to rule in Bharat. This is very easy, but Maya, Ravan, has locked their intellects. The Supreme Father, the Supreme Soul, is the Intellect of the Wise. Human beings have intellects, but they are locked. They have become those with stone intellects. Baba is now once again making you into those with divine intellects. He is making souls this. An intellect is in each soul. It is said: You have a stone intellect, you have a buffalo intellect. It is the same here. Whatever you explain, they don’t understand. They don’t follow shrimat. Shrimat always says: Children, become sticks for the blind. You have to listen to this and then relate it to others. This is why you have to travel far to serve others. You mustn’t just sit down in one place. You are now studying knowledge and yoga. Here, you are personally sitting in front of Shiv Baba. You are studying easy Raja Yoga in order to claim your inheritance. You have come here to claim the kingdom of the land of Vishnu. The rosary of victory of Vishnu will be created. You have now understood the secrets of the drama very clearly. You know that there truly was the deity sovereignty. There were the king and queen at the beginning of the golden age. Now, at the end of the iron age, no one can be called a king or queen. However, when someone helps the Government, he receives the title of Maharaja. That Government used to give titles such as Rai Saheb, Rai Bahadur etc. You are now receiving great title s in a practical way. You will become Her Holiness, His Holiness, Emperor and Empress. You will have double crowns. First, there is the holykingdom and then the unholy kingdom. Now it is unholy ; there is no kingdom. It is the rule of the people by the people. The drama has to be understood. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Bathe daily in the Mansarovar lake of the nectar of knowledge and make both the soul and body pure. Renounce following the dictates of Maya and follow the directions of the Father.
  2. This is the invaluable time of the confluence age. At this time, follow shrimat and do service. Become the true Vyas, listen to the true Gita and relate it to others. Become Rup and Basant.
Blessing: May you be a true effort-maker and adopt cleanliness in the form of contentment in your relationships and thereby remains constantly light and happy.
Throughout the day, you come into some relationship with a variety of souls. C heck in those what the percentage of contentment was in the self and in the other souls who came into some connection with you. The sign of contentment is that you yourself will be light and happy in your mind and others will also be happy. “Cleanliness in relationships” means contentment for it is honesty and cleanliness in relationships. This is why it is said that when there is truth, the soul dances. A true effort-maker will constantly continue to dance in happiness.
Slogan: Those who have no sorrow about anything are carefree emperors of the land free from sorrow.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 26 SEPTEMBER 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 26 September 2018

To Read Murli 25 September 2018 :- Click Here
26-09-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – अब नाटक पूरा होता है, घर चलना है इसलिये इस शरीर रूपी कपड़े को भूलते जाओ, अपने को अशरीरी आत्मा समझो”
प्रश्नः- कौनसा वन्डरफुल खेल संगम पर ही चलता है, दूसरे युगों में नहीं?
उत्तर:- फारकती दिलाने का। राम, रावण से फारकती दिलाते हैं। रावण फिर राम से फारकती दिला देते। यह बड़ा वन्डरफुल खेल है। बाप को भूलने से माया का गोला लग जाता है इसीलिये बाप शिक्षा देते हैं – बच्चे, अपने स्वधर्म में टिको, देह सहित देह के सब धर्मों को भूलते जाओ। याद करने का खूब पुरुषार्थ करते रहो। देही-अभिमानी बनो।
गीत:- जो पिया के साथ है…….. 

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे बच्चों ने नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार गीत सुना। हरेक बात में नम्बरवार कहा जाता है क्योंकि यह कॉलेज है अथवा युनिवर्सिटी कहो, साथ-साथ सच्चा सत का संग भी है। सत कहा जाता है एक को। वह एक ही बार आते हैं। अब इस समय तुम सच-सच कहते हो कि हम सत के संग में हैं। तुम ब्राह्मण ही उस सत कहने वाले ज्ञान सागर के सम्मुख बैठे हो। गाया भी जाता है जो पिया के साथ है उनके लिये ज्ञान की बरसात है। पिया, पिता को कहा जाता है। तुम बच्चों के सम्मुख पिया की ज्ञान बरसात है। तुम बच्चे जानते हो बरोबर ज्ञान सागर, पतित-पावन अब हमारे सम्मुख है। हम पतित से पावन वा कांटे से फूल बन रहे हैं। फूल बन जायेंगे फिर यह शरीर नहीं रहेगा। कली भी आहिस्ते-आहिस्ते खिलती जाती है। फट से खिल नहीं जाती। खिलते-खिलते फिर कम्पलीट फूल बन जाती है। अभी कोई भी कम्पलीट फूल नहीं बने हैं। वह तो कर्मातीत अवस्था हो जाती है। देही-अभिमानी तो अन्त में ही बनना है। अभी तुम सबका पुरुषार्थ चल रहा है। बाप है पारलौकिक पिता। यह दोनों संगमयुग के अलौकिक मात-पिता ठहरे। कोई कांटे भी हैं, कोई कली भी हैं। कली को खिलने में टाइम लगता है। तुम सब नम्बरवार कलियां हो, फूल बनने वाले हो। कोई अच्छी रीति खिले हैं, कोई आधा। एक दिन कम्पलीट भी जरूर खिलेंगे। बगीचा तो है ना। जानते हो हम कांटे से कली तो बने हैं फिर फूल बन रहे हैं, पुरुषार्थ कर रहे हैं। कोई तो कली ही ख़त्म हो जाती है, कोई थोड़ा खिलकर ख़त्म हो जाते। माया के बड़े भारी तूफान आते हैं। सेन्टर्स खोलते भी कोई-कोई ख़त्म हो जाते हैं, गिर पड़ते हैं। माया बड़ी जबरदस्त है। यह है चटाबेटी – राम और रावण की। राम-राम कहा जाता है। ऐसे नहीं त्रेता वाले राम को याद करते हैं। यह राम-राम परमात्मा के लिये कहते हैं। रावण से राम की भेंट होती है। राम है बाप, रावण है दुश्मन माया। माया भी जबरदस्त है। यह खेल है एक-दो को फ़ारकती दिलाना। राम तुमको माया रावण से त्याग दिला रहे हैं। माया फिर तुमको बाप राम से त्याग दिलाती है। बाप कहते हैं देह सहित जो भी सम्बन्धी आदि देह के हैं, सबका बुद्धि से त्याग करो। सर्व धर्मानि….. मैं फलाना हूँ, फलाने धर्म का हूँ – यह भूल अपने स्वधर्म में टिको। देह के सब धर्म छोड़ अपने को अकेला समझो। इस दुनिया की हर एक चीज़ से त्याग दिलाते हैं। अशरीरी बन जाओ। मेरा बनकर और मेरे को याद करो। बाप को भूले तो माया का गोला लग जायेगा। बाप को याद करने का खूब पुरुषार्थ करते रहो। माया भी बड़ी जबरदस्त है। बाप का बनकर भी फिर माया त्याग दिलाकर बाप से छुड़ा देती है। बाप को शल कोई फारकती न दे। आधा-कल्प तुम मुझे याद करते आये हो। तुम ही सम्पूर्ण भक्त हो ना। भक्ति भी तुमने ही शुरू की है। तो बाप आकर माया से त्याग दिलाते हैं। कहते हैं अपने को आत्मा समझो। इस कपड़े को (देह को) भूलते जाओ। बस, अभी हमको जाना है। उस नाटक में भी एक्टर्स होते हैं। उनको भी मालूम रहता है – बस, अभी 5-10 मिनट बाद हमारा खेल पूरा होने का समय आया है, फिर हम घर चले जायेंगे। खेल पूरा होने के समय यह बुद्धि में रहता है, शुरू में नहीं। तुम भी समझते हो हमारे 84 जन्म पूरे हुए। बाकी कितना समय होगा? तुम कहेंगे हम कब स्वर्ग वा सुखधाम में जायेंगे? परन्तु बाप कहते हैं इस लाइफ को तो वैल्युबुल, अमूल्य कहा जाता है। तुम बड़ी भारी सर्विस करते हो श्रीमत पर। सिर्फ तुम पाण्डव ही श्रीमत पर चलते हो। गीता आदि में यह बातें नहीं हैं। यह बाबा बहुत ही शास्त्र आदि पढ़ा हुआ है, गुरू किये हुए हैं। जो भी सब एक्टर्स की एक्टिविटीज़ हैं, उन सबको तुम जानते हो। शास्त्र तो बाद में बैठ बनाते हैं। वह क्या जानें? यह भी ड्रामा में खेल बना हुआ है। गीता-भागवत आदि सब अपने-अपने समय पर रिपीट होंगे। गीता है माई बाप। गीता को माता कहा जाता है। और कोई पुस्तक को माता नहीं कहेंगे। इनका नाम ही है गीता माता। अच्छा, उनको किसने रचा? पहले-पहले पुरुष स्त्री को एडाप्ट करते हैं ना। पुरुष शादी करते हैं तो मुख से कहते हैं यह मेरी स्त्री है। तो रचता हुए ना। फिर उनसे बच्चे होते हैं तो भी कहेंगे यह हमारे हैं। बच्चे भी कहेंगे यह हमारा बाप है। तुम भी बाबा की मुख वंशावली हो। कहते हो – बाबा, हम आपके हैं। इतना समय हम माया की मत पर चलते आये, अभी आपकी मत पर चलेंगे। माया कोई मुख से मत नहीं देती है। एक्ट ऐसी करते हैं, यहाँ तो बाप मुख से बैठ समझाते हैं।

तुम सब भारतवासी हो। जानते हो कि भारत ही सिरताज था। अभी दोनों ताज नहीं हैं। न होली, न अन-होली। गाया जाता है हर होलीनेस, हिज होलीनेस। स्त्री-पुरुष दोनों को कहते हैं। सन्यासियों को हिज़ होलीनेस कहते हैं। परन्तु प्रवृत्ति मार्ग है नहीं। प्रवृत्ति मार्ग में तो स्त्री-पुरुष दोनों पवित्र रहते हैं। सो तो सतयुग में दोनों पवित्र होते ही हैं, जिसको कम्पलीट पवित्र कहा जाता है। आत्मा और शरीर दोनों पवित्र रहते हैं। यहाँ पतित दुनिया में दोनों पवित्र तो हो न सके। तो अभी तुम बाप के सम्मुख सुन रहे हो, जिसको ज्ञान बरसात कहा जाता है। वह है विष की बरसात, यह है ज्ञान अमृत की बरसात। गाते हैं ना – अमृत छोड़ विष काहे को खाये। तुमको अब ज्ञान अमृत मिल रहा है। भक्ति मार्ग में तो ऐसे ही सिर्फ गाते रहते हैं। अभी तुमको प्रैक्टिकल में ज्ञान अमृत मिलता है, इससे ही अमृतसर नाम पड़ा है। बाकी तालाब तो ऐसे बहुत हैं। मानसरोवर भी है ना। मानसरोवर, मनुष्यों का सरोवर तो वह है नहीं। यह है ज्ञान अमृत का सरोवर, इनको ज्ञान मान-सरोवर भी कहा जाता है। ज्ञान सागर भी है। कोई नदियां हैं, कोई कैनाल्स हैं, कोई टुबके हैं। नम्बरवार हैं ना। बच्चे समझ गये हैं, कल्प पहले भी बाप ने समझाया था फिर अब समझा रहे हैं। तुम निश्चय करते हो हम बाबा से राजयोग सीख रहे हैं। जिससे कल्प पहले भी हम स्वर्ग के मालिक बने थे। प्रजा भी कहेगी हम मालिक हैं। भारतवासी कहते हैं ना हमारा भारत सबसे ऊंच था। अभी हमारा भारत सबसे नीच है। हमारा भारत बहुत श्रेष्ठाचारी था, अब हमारा भारत बहुत भ्रष्टाचारी हो गया है। और कोई खण्ड के लिये ऐसे नहीं कहेंगे। सभी धर्म वाले भी जानते हैं कि भारत प्राचीन था तब हम लोग नहीं थे। सतयुग में जरूर सिर्फ भारतवासी ही होंगे। गाते भी हैं क्राइस्ट से 3 हजार वर्ष पहले भारत ही था और कोई धर्म नहीं था, नई दुनिया में नया भारत था। अभी पुराना भारत है। भारत हेविन था। परन्तु किसकी बुद्धि में पूरा बैठता नहीं है। यह तो बहुत सहज समझने की बात है। बाप तुमको समझा रहे हैं। तुम प्रैक्टिकल में कर्तव्य कर रहे हो। नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार सच्चा-सच्चा व्यास बनना है। सच्ची गीता सुनानी है। तुमको कोई पुस्तक आदि तो हाथ में उठाना नहीं है। तुम तो रूप-बसन्त हो। तुम्हारी आत्मा गीता का ज्ञान सुनती है बाप से। तुम्हारी बुद्धि में एक ही बाप है और कोई गुरू-गोसाई साधू-सन्त आदि तुम्हारी बुद्धि में नहीं हैं। तुम कहेंगे हम ज्ञान सागर परमपिता परमात्मा से सुनते हैं, जिसको ही सत श्री अकाल कहा जाता है। अक्षर कितना मीठा है। अकाली लोग बड़ी जोर से कहते हैं सत श्री अकाल…….।

यहाँ तुम बच्चे ज्ञान डांस करते हो इसलिए कहा जाता है सच तो बिठो नच, (सच्चे हो तो खुशी में नाचते रहो) फिर तुम वहाँ जाकर रास-विलास करेंगे। मीरा भी ध्यान में रास आदि करती थी। परन्तु उसने भक्ति की। तुम कोई भक्ति नहीं करते हो। दिव्य दृष्टि दाता बाप स्वयं तुमको पढ़ा रहे हैं। बहुत बच्चे साक्षात्कार करते रहते हैं तो मनुष्य समझते हैं – यह तो जादू है। बच्चे पढ़ाई में घूमते-फिरते हैं ना। तुम्हारे लिये भी यह खेलपाल है। यह कोई सब्जेक्ट नहीं, इनके मार्क्स नहीं। खेलने-कूदने की मार्क्स नहीं होती हैं। यहाँ भी जो इस खेलपाल में रहते हैं, उनको ज्ञान की मार्क्स नहीं मिल सकती। यह तो खेलपाल है इसको अव्यक्त खेल कहा जाता है। वह व्यक्त खेल, यह अव्यक्त खेल। रास आदि करने वाले को मार्क्स नहीं मिलती हैं इसलिये बाबा कहते हैं ध्यान से ज्ञान अच्छा है, श्रेष्ठ है। ध्यान तो सिर्फ एम ऑब्जेक्ट का साक्षात्कार है। यह है ही राजयोग। एम ऑब्जेक्ट बुद्धि में है। वह तो इन आंखों से देखते हैं – हम फलाना बनेंगे। यहाँ तो यह तुम्हारी है भविष्य की एम ऑब्जेक्ट। प्रिन्स-प्रिन्सेज बनना है। फिर तुम महाराजा-महारानी बनते हो। बिगर एम ऑब्जेक्ट अगर कोई कॉलेज में बैठे तो उनको क्या कहेंगे? भारत में और जो सतसंग हैं उनमें कोई एम ऑब्जेक्ट नहीं है। इसको युनिवर्सिटी भी कह सकते हैं, पाठशाला भी कह सकते हैं। सतसंग को कभी पाठशाला नहीं कहा जाता।

तुम बच्चे जानते हो हम पतित-पावन गॉड फादरली युनिवर्सिटी में पढ़ते हैं। सारी युनिवर्स को तुम पवित्र स्वर्ग बनाते हो। अपने लिये ही इस युनिवर्स को स्वर्ग बनाते हो, जो बनायेंगे वही फिर राज्य करेंगे। ऐसे तो नहीं, सब स्वर्ग के मालिक बनेंगे। जो पूरे नर्कवासी हैं, जिन्होंने द्वापर से भक्ति की है वही स्वर्गवासी होंगे। बाकी सब मनुष्य सरसों मिसल पीसकर ख़त्म होंगे, आत्मायें वापस बाप के पास जायेंगी। कितना बड़ा विनाश होना है! अभी तो बहुत प्रजा है। कितना बैठ गिनेंगे। एक्यूरेट गिनती कर न सकें। दुनिया में कितने मनुष्य हैं। यह सब ख़त्म हो जायेंगे। बच्चों को बनेन ट्री का भी मिसाल बताया गया है। कलकत्ते में बहुत बड़ा झाड़ है, उसमें थुर (फाउन्डेशन) है नहीं, बाकी सारा झाड़ खड़ा है। अभी देवी-देवता धर्म भी है परन्तु उनका नाम प्राय:लोप है। ऐसे नहीं कहेंगे कि फाउन्डेशन है ही नहीं, सड़ा हुआ भी कुछ न कुछ निशान तो रहेगा ना। प्राय:लोप का अर्थ ही है बाकी थोड़ा रहा है। चित्र हैं। भारत में लक्ष्मी-नारायण राज्य करते थे। यह तो बड़ा सहज है परन्तु माया रावण बुद्धि को ताला लगा देती है। परमपिता परमात्मा है बुद्धिवानों की बुद्धि। मनुष्यों में बुद्धि है परन्तु ताला लगा हुआ है। पत्थरबुद्धि हो गये हैं। अब बाबा फिर से तुमको पारसबुद्धि बनाते हैं। आत्मा को बनाते हैं। बुद्धि आत्मा में रहती है ना। कहा जाता है ना – तुम तो पत्थर-बुद्धि, भैंस बुद्धि हो। यहाँ भी ऐसे है। कुछ भी समझाओ तो समझते नहीं, श्रीमत पर चलते नहीं। श्रीमत तो सदैव कहेगी – बच्चे, अन्धों की लाठी बनो। सुनना और फिर सुनाना है इसलिये सर्विस में दूर जाना भी पड़ता है। एक जगह बैठ तो नहीं जाना है।

अभी तुम ज्ञान और योग सीख रहे हो। यहाँ तुम शिवबाबा के सम्मुख बैठे हो। सहज राजयोग सीख रहे हो – वर्सा लेने के लिए। तुम आये हो विष्णुपुरी की राजधानी लेने के लिये। विष्णु की विजय माला बनेगी। अभी तुम ड्रामा के राज़ को अच्छी रीति समझ गये हो। तुम जानते हो बरोबर डीटी सावरन्टी थी। सतयुग आदि में राजा-रानी थे। अभी कलियुग अन्त में तो राजा-रानी कोई भी कहला नहीं सकते। परन्तु गवर्मेन्ट को मदद करते हैं तो फिर महाराजा का टाइटिल मिल जाता है। वह गवर्मेन्ट भी टाइटिल देती थी राय साहेब, राय बहादुर आदि। अभी तो तुमको बड़ा टाइटिल मिल रहा है प्रैक्टिकल में। तुम हर होलीनेस, हिज होलीनेस महाराजा-महारानी बनेंगे। तुम पर डबल ताज है। पहले होता है होली राज्य फिर अनहोली राज्य। अभी फिर अनहोली, नो राज्य। प्रजा का प्रजा पर राज्य है। ड्रामा को समझना है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिये मुख्य सार :-

1) रोज़ ज्ञान अमृत के मान-सरोवर में स्नान कर आत्मा और शरीर दोनों को पावन बनाना है। माया की मत छोड़ बाप की मत पर चलना है।

2) यह अमूल्य संगम का समय है, इस समय श्रीमत पर चल सर्विस करनी है। सच्चा व्यास बन सच्ची गीता सुननी और सुनानी है। रूप-बसन्त बनना है।

वरदान:- सम्बन्ध में सन्तुष्टता रूपी स्वच्छता को धारण कर सदा हल्के और खुश रहने वाले सच्चे पुरुषार्थी भव
सारे दिन में वैरायटी आत्माओं से संबंध होता है। उसमें चेक करो कि सारे दिन में स्वयं की सन्तुष्टता और सम्बन्ध में आने वाली दूसरी आत्माओं की सन्तुष्टता की परसेन्टेज कितनी रही? सन्तुष्टता की निशानी स्वयं भी मन से हल्के और खुश रहेंगे और दूसरे भी खुश रहेंगे। संबंध की स्वच्छता अर्थात् सन्तुष्टता यही सम्बन्ध की सच्चाई और सफाई है, इसलिए कहते हैं सच तो बिठो नच। सच्चा पुरुषार्थी खुशी में सदा नाचता रहेगा।
स्लोगन:- जिन्हें किसी भी बात का गम नहीं, वही बेगमपुर के बेफिक्र बादशाह हैं।

TODAY MURLI 26 SEPTEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 26 SEPTEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 25 September 2017 :- Click Here

26/09/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, do service with a far-sighted and broad intellect. Prove the contrast between truth and falsehood.
Question: What things are proved through the Mahabharata and what is the meaning of the Mahabharata?
Answer: 1) The Mahabharata means destruction of innumerable religions and establishment of the one religion. 2) Mahabharata means victory for the Pandavas and defeat for the Kauravas. 3) It is proved through the Mahabharat War that it must definitely have been God who sat in the chariot and gave knowledge, that God must definitely have taught Raja Yoga through which the kingdom was established. After the Mahabharata the golden-aged kingdom was established. You children can explain the Mahabharata very clearly.
Song: This is the Spring in which to forget the world.

Om shanti. Sweetest children, you understand that the scene of the Mahabharata is taking place at this time. The Father has explained that there is as much truth in the scriptures as a pinch of salt in a sackful of flour. All the rest is just false. Now, at the time of the Mahabharata, they show destruction. They even show that missiles were invented in Europe. You children also know that the same sacrificial fire is still continuing when the one religion is being established. There is victory for the Pandavas. There is Raja Yoga. They show that Krishna gave knowledge to Arjuna while sitting in his chariot. You understand that He (God) gave the knowledge of Raja Yoga. After the Mahabharat War, the kingdom must definitely have been established through Raja Yoga. At this time there is no kingdom; it has to be established again. They even create plays of the Mahabharata. There are advertisements. They have even made a film of it and they invite people to see it. You children know that the Father is now telling you the whole truth. Those people create false plays. You should watch a performance of the Mahabharata for the sake of service and see what those people have created and what you can explain to them from that. You have to churn the ocean of knowledge for service. However, children’s intellects have not become that broad and unlimited as yet. You have to go and explain to those who have created those plays what is actually true and what is false. The Mahabharat War that you have shown: what is its date and when did it take place? They have also created a play about God being in every particle and so you should go and see what they show. The intellects of you children should be very far-sighted and broad. In fact you should print leaflets about what the truth is. The truth is that which is happening in a practic al way. Come and understand how all the plays are false. By understanding even this much, you can become the masters of the land of truth. You can claim your inheritance from God. You should have such thoughts for service. Some even go and meet those from the Sarvodaya community (Sarvo-all, daya-mercy), but that too requires a very broad and unlimited intellect. You should explain to them: Sarva means to have mercy for the whole world. It is only the one Father who is blissful. He alone has mercy for everyone. Five thousand years before today, Bharat became heaven and there were all types of happiness there. It is now the end of the iron age and so there is so much sorrow and corruption. Only the one unlimited Father has mercy for the whole world. I definitely know this and that is why I am telling you. When you speak of Sarvodaya, it is a question of the whole world. Therefore, come and understand how God has mercy for everyone. It is now the end of the iron age. There is also the Mahabharat War. There definitely has to be someone who would make the impure world pure. So, out of all souls, He is the blissfulOne. A very good intellect filled with knowledge is required. Baba received news of how someone met the leader of the Sarvodaya community. However, the one who goes to meet him has to have a very broad and unlimited intellect. Baba has seen that no one has yet said anything of about a broad and an unlimited intellect. First of all, tell them that there is sorrow and peacelessness throughout the whole world. This is the land of sorrow. Therefore, there must surely have been the land of happiness and the land of peace before that. You children have not even told this to those people. You should praise Bharat a great deal. Achcha, who made Bharat like it is now? You cannot have mercy for everyone. It is God alone who can do that and you have forgotten Him. He is carrying out His task Himself. Yes, it is good that you give something or other to those who are experiencing sorrow. You should meet them in a quiet place. Write the contrast between the truth and falsehood in the Mahabharata play that they have created and make such leaflets as: Come and understand how Bharat becomes like a diamond from a shell. When the Mahabharat War took place, there was the Father from whom you received your inheritance. No one can call Krishna the Father. When people call out to God, the Father, they only remember the incorporeal One. You children should think throughout the day about how to do service. You should churn the ocean of knowledge about how to awaken others. You have to change thorns into flowers. You have to go to the cremation grounds and do service. Some children do go there, but they become tired. They see that they explain so much and yet people don’t listen to them. Oh! but how can they understand? Baba gives the example: How can lambs understand anything? This knowledge is very easy. The Highest on High is God and then there are the deities. This secret of the castes is also very easy. The topknot of Brahmins is the highest of all. You become deities and you are then not praised as much. There is a lot of praise of you at this time. So many melas for the Shaktis take place. They don’t have a mela for Lakshmi. She is just invoked on the day of Deepmala. It is always the mela of Jagadamba that takes place. You know who Jagadamba is and who Lakshmi is. Why is Lakshmi worshipped? Where are all of them at this time? Lakshmi existed in the golden age. Where is that soul at this time? You know that Lakshmi took 84 births and that now, at the confluence age, she has become Jagadamba. She has been adopted and her name has been changed. Many children say that Baba has adopted them and they ask why their names are not changed. Baba says: What can I do? I would change the name, but you then defame the name. You were given first-class names. You are called Prajapita Brahma Kumars and Kumaris. You have to continue with your own name for the livelihood of your body and in business etc. You say that this is now your name. You still have to give your home address. It is in your intellects that you are sitting here as Brahma Kumars and Kumaris. You also have Shiv Baba and Brahma Baba with you. When you see your friends and relatives outside, you remember your original names. Those names also have to be written. Otherwise, they wouldn’t be able to understand who you are. Then, when you go back to your households, you forget. While living there, you have to have the faith that you belong to the clan of Shiva and stay in that remembrance. This requires effort. That is why Baba writes: Keep your chart. While having worldly relatives, to continue to remember the One beyond requires effort. This is something new. They show a chariot in the Mahabharata play. They definitely speak Sanskrit verses. You should see what things they have shown and then write about them. You should have the concern to do service. You have to give the introduction: By knowing these things you will receive the knowledge of the true Mahabharat War. When Baba hears anything, he has thoughts about it. You know that those small sects and cults emerge later. When a tree reaches the end of its lifespan it has become completely dry. So, none of those of any of the other religions is going to come into the golden age. However, those who have been converted will come back from somewhere or other. Whatever is in each one’s fortune is as much as each one will take. You have to understand these things yourself and then explain them to others. If you don’t create subjects and don’t benefit many others, what inheritance would you receive? You can tell from the faces of some people that they enjoy knowledge. If something touches their hearts, they continue to nod in agreement. Otherwise, they would continue to look here and there. Baba checks to see whether someone is unworthy or worthy. That One is the unlimited Father. This Dada also understands. He is not a buddhu. Baba sometimes even says: OK, you may consider this one to be a buddhu. It is only Shiv Baba who speaks the murli to you. So, some people think that this one doesn’t know anything, that he is just like them. They have their own arrogance. They believe that they are doing service and that they are cleverer than him. They say such things; they are not far-sighted at all. This is Baba’s method for making the children remember Shiv Baba. It is only by having remembrance that your sins will be absolved. There is no question of body consciousness in this. For instance, if Shiv Baba has heard some news, He is the One who gives you directions: Do service in this way; churn the ocean of knowledge. As you progress further, many sannyasis etc. will emerge. They will understand that it really is the Supreme Father, the Supreme Soul, who is teaching you and that it cannot be Krishna. You will prove this to them. You can understand what is right and what is wrong. Only you understand who takes you into the wrong and who takes you into the right. No one knows that Ravan’s kingdom began with the copper age and has continued since then. You also have to explain the picture of Ravan. When did it begin? The date should be written, that Ravan is the oldest enemy. By conquering Ravan, you become conquerors of the world. The Father continues to show you many ways to do service. You continue to receive directions. Write such leaflets and distribute them widely. You will continue to receive more points with which to hit the target. Nowadays, many people go to see plays. It is dirty to become impure. All are impure. They become pure and then become impure. Baba says: You have dirtied your face. There are many like that. Baba understands how little strength some have to conquer Maya. Some ask Baba if they can get married. Baba then understands that that is their desire. Baba would say: You are the master; you may go to hell or go to the ocean of milk. The destination is very high. The vice of lust is not a small thing. It is very difficult. Sannyasis leave their homes and families and go away. You have to live at home with your family, have yoga with the Father and claim your full inheritance. You have to make a lot of effort. There is a lot of attainment. Sannyasis become pure and so even great presidents etc. go and bow down to them. Look at the difference between those who are pure and those who are impure. People make effort and become MPs etc. Everything depends on effort. They ask: Is effort greater or is the reward greater? Effort is said to be greater. It is through your efforts that the reward is created. Some then think that they will make effort if they have it in their reward and that the drama will inspire them to do it. They think in that way and sit down and do nothing! The first and main thing is to give the Father’s introduction. Don’t waste your time in many things. If they understand just one point, make them write: I truly understand this. Unless they know the Father, they won’t understand anything else. This is the first thing to grasp. If you don’t believe this, then go and take your own path! You say that the incorporeal Father is the Father of all and so write: God is One and all the rest are His creation. Now, tell us who the God of the Gita is. They would say that it is the incorporeal One. How would He have spoken the Gita? Then explain to them what the relationship with Prajapita Brahma is. The human world is created through Prajapita Brahma. He adopts you shudras and makes you into Brahmins. You should make them write this down and then take their address. Then, after 10 to 15 days, write them a letter. First of all, give them the Father’s introduction and bring them happiness. Write that you truly receive the inheritance from the unlimited Father. These Brahma Kumars and Kumaris show the path to the land of happiness and the land of peace. You should make them write this down and then continue to correspond with them. Only when you make this much effort can it be said that you are doing service. You should even lose your sleep in benefiting others. By your crying out to Shiv Baba and calling out to Him, Baba lost his sleep, didn’t He? Therefore, He came. You children too should make effort. You should first explain these points at the exhibitions and when using the projectors. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Churn the ocean of knowledge in order to do service. Don’t become tired. Create methods to benefit many.
  2. While living with your worldly family, remember the Father from beyond. Make your reward elevated by making elevated effort.
Blessing: May you be an experienced image who learns the lesson of seeing good and not seeing anything bad even in something that is bad.
Even if everything is bad, there must definitely be one or two good things in that. Everything has something merged in it to teach you a lesson, because everything is instrumental to make you experienced. It makes you learn the lesson of patience. Others may be forceful at that time but you are learning the lesson of patience and tolerance at that time. This is why it is said: Whatever is happening is good, and whatever is to happen will be even better. You simply need wise intellect to pick up the goodness. Do not see the bad things, but pick up the good and you will become number one.
Slogan: In order to remain constantly happy and content, transform bad things into good with the power of silence.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

Read Bk Murli 24 September 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 26 SEPTEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 26 September 2017

September 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 25 September 2017 :- Click Here
[Web-Dorado_Zoom]
26/09/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – दूरादेशी विशाल बुद्धि बन सर्विस करनी है, सच और झूठ का कान्ट्रास्ट सिद्धकर बताना है”
प्रश्नः- महाभारत से कौन-कौन सी बातें सिद्ध होती हैं, महाभारत का अर्थ क्या है?
उत्तर:- महाभारत अर्थात् अनेक धर्मों का विनाश और एक धर्म की स्थापना। 2- महाभारत का अर्थ ही है पाण्डवों की विजय, कौरवों की पराजय। 3- महाभारत लड़ाई से सिद्ध होता है कि जरूर भगवान भी होगा, जिसने रथ पर बैठ ज्ञान सुनाया। भगवान ने जरूर राजयोग सिखाया होगा जिससे राजाई स्थापन हुई। महाभारत अर्थात् जिसके बाद सतयुगी राजाई स्थापन हो। तुम बच्चे महाभारत पर अच्छी तरह से समझा सकते हो।
गीत:- यही बहार है दुनिया को भूल जाने की…

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे बच्चे जानते हैं कि इस समय महाभारत की सीन चल रही है। बाप ने समझाया था जैसे आटे में नमक होता है ना वैसे शास्त्रों में कुछ न कुछ सच है। बाकी तो प्राय: झूठ ही है। अब महाभारत के समय विनाश तो दिखाते हैं। यूरोप को भी दिखाते हैं, मूसल वहाँ से इन्वेन्ट हुए। यह भी तुम बच्चे जानते हो कि यह वही यज्ञ चल रहा है, जबकि एक धर्म की स्थापना होती है। पाण्डवों की विजय होती है। है भी राजयोग। दिखाते हैं अर्जुन के रथ में अर्जुन को कृष्ण ज्ञान देते हैं। यह भी समझते हो राजयोग का ज्ञान दिया है। महाभारत लड़ाई के बाद जरूर राजयोग से राजाई स्थापन हुई होगी। इस समय तो राजाई है नहीं। फिर से स्थापन होनी चाहिए। महाभारत के नाटक भी बनते हैं। एडवरटाइजमेंट निकल रही है। उनका बाइसकोप बनाया है, आकरके देखो। अब तुम बच्चे जानते हो बाप तुमको सब सच बतलाते हैं। वह तो नाटक आदि सब झूठे बनाते हैं। महाभारत का नाटक सर्विस के ख्याल से देखना चाहिए कि वह लोग क्या बनाते हैं। फिर उस पर हम क्या समझायेंगे। सर्विस के लिए विचार सागर मंथन करना होता है। परन्तु बच्चों की इतनी विशाल बुद्धि हुई नहीं है। जिन्होंने नाटक बनाया है उनको जाकर समझाना है। वास्तव में सच क्या है, झूठ क्या है? तुमने जो महाभारत लड़ाई दिखाई है, उनकी तिथि तारीख चाहिए, कब लगी थी? जैसे कण-कण में भगवान का नाटक बनाया है तो जाकर देखना चाहिए क्या दिखाते हैं। बच्चों की बड़ी दूरांदेशी, विशालबुद्धि होनी चाहिए। वास्तव में सच क्या है – उसके पर्चे छपवाने चाहिए। सच तो वही है जो प्रैक्टिकल चल रहा है। नाटक सब झूठे कैसे हैं सो आकर समझो। यह समझने से भी तुम सचखण्ड के मालिक बन सकते हो। ईश्वर से वर्सा ले सकते हो। ऐसे-ऐसे सर्विस के ख्यालात आने चाहिए। सर्वोदया वालों से भी कोई-कोई मिलते हैं परन्तु उसमें भी बड़ी विशाल बुद्धि चाहिए। उनको समझाना चाहिए सर्व माना सारी सृष्टि पर दया करना। सो तो ब्लिसफुल एक ही बाप है। वही सर्व पर दया करते हैं। आज से 5 हजार वर्ष पहले भारत स्वर्ग था, सर्व सुख थे। अभी कलियुग के अन्त में इतने दु:ख हैं, भ्रष्टाचार है। सारी दुनिया पर तो दया एक बेहद का बाप ही करते हैं। जरूर मैं जानता हूँ तब तो बतलाता हूँ। सर्वोदया, इसमें सारी दुनिया की बात है। अब भगवान कैसे सर्व पर दया करते हैं सो आकर समझो। अब कलियुग का अन्त है। महाभारत लड़ाई भी है। जरूर कोई है जो पतित दुनिया को पावन बनाने वाला है। तो सर्व आत्माओं का ब्लिसफुल वह ठहरा ना, इसमें ज्ञान की बुद्धि बड़ी अच्छी चाहिए। बाबा के पास तो समाचार मिलते हैं कि हम सर्वोदया लीडर से मिला, परन्तु मिलने वाला बड़ी विशालबुद्धि वाला चाहिए। बाबा ने देखा कि कोई ने विशालबुद्धि की बात नहीं की है। पहले तो उनको बताना चाहिए कि सारी दुनिया में दु:ख, अशान्ति है। यह दु:खधाम है तो जरूर पहले सुखधाम, शान्तिधाम था। बच्चों ने यह भी उनको बताया नहीं। भारत की बड़ी महिमा करनी चाहिए। अच्छा, भारत को ऐसा बनाने वाला कौन? तुम तो सर्व पर दया कर नहीं सकते हो। वह तो एक ही ईश्वर है, जिसको तुम भूले हुए हो। वह खुद अपना कार्य कर रहे हैं। हाँ, यह भी अच्छा है जो दु:खियों को कुछ न कुछ देते हो। उनसे मिलना भी चाहिए एकान्त में।

महाभारत का जो नाटक बनाया है उस पर सच और झूठ का कान्ट्रास्ट लिख पर्चे बनवाने चाहिए। भारत कैसे कौड़ी से हीरे जैसा बनता है सो आकर समझो। जब महाभारत लड़ाई हुई तब बाप भी था, जिससे वर्सा मिलता है। कृष्ण को तो कोई बाप कह न सके। मनुष्य जब गॉड फादर कहकर पुकारते हैं तब निराकार को ही याद करते हैं। तुम बच्चों को सारा दिन यही ख्यालात रहने चाहिए कि हम कैसे सर्विस करें। विचार सागर मंथन करना चाहिए कि कैसे औरों को जगायें। कांटों को फूल बनाना है। शमशान में जाकर सर्विस करनी है। बच्चे जाते हैं परन्तु बहुत थक पड़ते हैं। देखते हैं कि इतना समझाते हैं, परन्तु सुनते ही नहीं। अरे समझेंगे भी कैसे। बाबा मिसाल देते हैं कि रिढ़ (भेड़) क्या समझे…. है तो बड़ा सहज ज्ञान…. ऊंच ते ऊंच है भगवान फिर देवतायें। यह वर्णों का राज़ भी बहुत सहज है। ब्राह्मण चोटी हैं सबसे ऊंच। तुम देवता बनते हो तो इतनी महिमा नहीं होती है। इस समय तुम्हारी महिमा बहुत है। शक्तियों के कितने मेले लगते हैं। लक्ष्मी का मेला नहीं लगता है। उनका सिर्फ दीपमाला के दिन आह्वान करते हैं। मेला सदा जगत अम्बा का लगता है। तुम जानते हो जगत अम्बा कौन है! लक्ष्मी कौन है! लक्ष्मी की पूजा क्यों होती है! अभी सब कहाँ हैं! लक्ष्मी तो सतयुग में थी। अभी उनकी आत्मा कहाँ है? तुम जानते हो लक्ष्मी 84 जन्म भोग अभी वह संगम पर जगत अम्बा बनी है। एडाप्ट कर फिर उनका नाम बदला जाता है। बहुत बच्चे कहते हैं हमको बाबा ने एडाप्ट किया है। हमारा नाम क्यों नहीं बदला जाता है। बाबा कहते हैं क्या करूँ, नाम तो बदलूँ परन्तु नाम को बट्टा लगा देते हैं। (बदनाम कर देते हैं) नाम भी बहुत फर्स्टक्लास मिले थे। तुम प्रजापिता ब्रह्माकुमार कुमारियां कहलाते हो ना। भल शरीर निर्वाह अर्थ धन्धे आदि में वह नाम चलाना पड़ता है। तुम तो कहेंगे हमारा तो अब यह नाम है। फिर भी एड्रेस घर की देनी होती है। बुद्धि में है हम ब्रह्माकुमार कुमारी हैं, यहाँ बैठे हैं। साथ में शिवबाबा ब्रह्मा बाबा है। वहाँ बाहर मित्र सम्बन्धियों को देखते हो तो वह नाम याद आ जाता है। वह नाम भी लिखना पड़ता है। नहीं तो समझ भी न सकें। तो गृहस्थ व्यवहार में जाने से फिर भूल जाते हैं। उसमें रहते अपने को शिववंशी निश्चय कर उस याद में रहना पड़े। मेहनत है इसलिए बाबा लिखते हैं कि चार्ट रखो। लौकिक सम्बन्धी होते हुए भी पारलौकिक को याद करते रहें, इसमें मेहनत है। यह नई बात है ना।

अब महाभारत नाटक में रथ भी तो दिखायेंगे। संस्कृत श्लोक भी जरूर बोलेंगे। देखना चाहिए कि क्या क्या बतलाते हैं फिर उस पर ही लिखना चाहिए। सर्विस का ख्याल रहना चाहिए। परिचय देना है। यह बातें जानने से तुमको सच्चा महाभारत लड़ाई का ज्ञान मिल जायेगा। बाबा कुछ भी सुनते हैं तो ख्याल चलता है ना। तुम तो जानते हो यह छोटे-छोटे मठ पंथ पिछाड़ी में निकलते हैं। झाड़ की आयु पूरी होने से सारा झाड़ ही सूख जाता है। तो यह सब जो भी धर्म वाले हैं, वह कोई सतयुग में आने वाले नहीं हैं। बाकी जो कनवर्ट हो गये हैं – वह कहाँ न कहाँ से निकलते हैं। जितना जो जिसकी तकदीर में होगा वह लेंगे। खुद समझकर फिर औरों को भी समझाना है। प्रजा नहीं बनाई, बहुतों का कल्याण नहीं किया तो वर्सा क्या मिलेगा। कोई की शक्ल से ही पता पड़ जाता है कि इनको ज्ञान अच्छा लगता है। बात दिल से लगेगी तो कांध ऐसे हिलता रहेगा। नहीं तो इधर उधर देखते रहेंगे। बाबा जांच भी करते हैं कि यह नालायक है वा लायक है! यह तो बेहद का बाप है ना। यह दादा भी समझते हैं ना – यह कोई भुट्टू (बुद्धू) तो नहीं। बाबा कब कह भी देते हैं अच्छा इनको भुट्टू समझो। तुम्हें शिवबाबा ही सुनाते हैं, मुरली चलाते हैं। तो कई ऐसे समझ लेते हैं कि यह थोड़ेही कुछ जानते हैं। यह तो हमारे मुआफिक ही हैं। अपना अहंकार आ जाता है। समझते हैं हम तो सेवा करते हैं, हम उनसे भी तीखे ठहरे। ऐसे कहते हैं, दूरादेशी नहीं हैं। बाबा की तो यह युक्ति है कि बच्चे शिवबाबा को याद करें। याद करने से ही विकर्म विनाश होंगे, इसमें देह-अभिमान की तो बात ही नहीं। समझो शिवबाबा ने समाचार सुना, वही तुमको डायरेक्शन देते हैं। ऐसी-ऐसी सर्विस करो। विचार सागर मंथन करो। सन्यासी आदि आगे चल बहुत निकलेंगे जो समझेंगे कि इन्हों को पढ़ाने वाला बेशक परमपिता परमात्मा है, कृष्ण तो हो नहीं सकता। तुम सिद्ध कर देंगे। समझ सकते हैं राइट क्या है, रांग क्या है। रांग में कौन ले जाते हैं, राइट में कौन ले जाते हैं – यह तुम अभी समझते हो। यह कोई को थोड़ेही पता है कि रावण राज्य द्वापर से शुरू हुआ है, जो चला आ रहा है। रावण के चित्र पर भी समझाना है। यह कब से शुरू हुआ है। डेट डालनी चाहिए कि यह रावण सबसे पुराना दुश्मन है। इन पर जीत पाने से तुम जगतजीत बन सकते हो। बाप सर्विस की अनेक प्रकार की युक्तियां बताते हैं। डायरेक्शन मिलते रहते हैं। ऐसे-ऐसे पर्चों में लिखकर खूब बांटो और और प्वाइंट्स मिलती रहेंगी तीर लगाने की।

आजकल नाटक देखने तो बहुत जाते हैं। पतित बनना यह गंदगी है ना। सब पतित हैं। पावन बन फिर पतित बन पड़ते हैं। बाबा कहते हैं काला मुँह कर दिया। ऐसे तो बहुत होते हैं। बाबा तो समझ जाते हैं कि इनमें क्या ताकत है – माया पर जीत पाने की। बाबा से पूछते हैं शादी करूँ? बाबा तो समझ जाते हैं कि इनकी दिल है। बाबा कहेंगे मालिक हो – चाहे जहनुम में जाओ, चाहे क्षीर सागर में जाओ। मंजिल बहुत बड़ी है। काम विकार कोई कम थोड़ेही है। बहुत मुश्किल है। सन्यासी तो घरबार छोड़ जाते हैं। तुमको गृहस्थ व्यवहार में रहते बाप से योग लगाकर पूरा वर्सा लेना है। बहुत मेहनत करनी पड़े। प्राप्ति भी बहुत है। सन्यासी पवित्र बनते हैं, तो बड़े-बड़े प्रेजीडेंट आदि भी जाकर उनको माथा टेकते हैं। फर्क देखो पतित और पावन का। मेहनत से मनुष्य एम.पी. आदि बन जाते हैं। है सारा पुरूषार्थ पर मदार। कहते हैं ना – पुरूषार्थ बड़ा या प्रालब्ध बड़ी। पुरूषार्थ ही बड़ा कहेंगे। पुरूषार्थ से ही प्रालब्ध बनती है ना। कोई फिर समझते हैं प्रालब्ध में होगा तब तो पुरूषार्थ करेंगे। ड्रामा करायेगा। ऐसे समझकर बैठ जाते हैं। पहली-पहली मुख्य बात है ही बाप का परिचय देना। जास्ती बातों में टाइम वेस्ट नहीं करना है। एक प्वाइंट को समझे तो लिखवाना है कि मैं बरोबर यह बात समझता हूँ। बाप को जानने सिवाए और कुछ समझेगे नहीं। पहली बात ही यह पकड़नी है। नहीं मानते हो तो जाओ, अपना रास्ता लो। तुम कहते हो ना – निराकार बाप सभी का बाप है तो लिखो भगवान एक है, बाकी सब उनकी रचना हैं। अब बताओ गीता का भगवान कौन? कहेंगे वह तो निराकार है, उसने गीता कैसे सुनाई होगी! फिर बताना है प्रजापिता ब्रह्मा से क्या सम्बन्ध है? प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा तो मनुष्य सृष्टि रची जाती है। शूद्र से एडाप्ट कर ब्राह्मण बनाते हैं। यह लिखवाकर फिर एड्रेस लेना चाहिए। फिर 10-15 दिन बाद पत्र लिखना चाहिए। पहले तो बाप का परिचय दे खुशी में लाना चाहिए। लिखो बरोबर बेहद के बाप से वर्सा मिलता है। यह ब्रह्माकुमार कुमारी सुखधाम, शान्तिधाम का रास्ता बताते हैं। लिखवा लेना चाहिए फिर लिखा-पढ़ी करते रहना चाहिए। इतनी मेहनत हो तब सर्विस कही जाए। औरों का कल्याण करने लिए नींद फिट जानी चाहिए। शिवबाबा को भी रडियां मार-मार कर, पुकार-पुकार कर बाबा की नींद फिटा दी ना। तो आ गये। बच्चों को भी मेहनत करनी चाहिए। प्रदर्शनी वा प्रोजेक्टर में भी पहले इस प्वाइंट्स पर समझाना चाहिए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सर्विस के लिए विचार सागर मंथन करना है। थकना नहीं है। बहुतों के कल्याण की युक्तियां रचनी हैं।

2) लौकिक के बीच में रहते भी पारलौकिक बाप को याद करना है। श्रेष्ठ पुरूषार्थ से अपनी प्रालब्ध ऊंच बनानी है।

वरदान:- बुराई में भी बुराई को न देख अच्छाई का पाठ पढ़ने वाले अनुभवी मूर्त भव 
चाहे सारी बात बुरी हो लेकिन उसमें भी एक दो अच्छाई जरूर होती हैं। पाठ पढ़ाने की अच्छाई तो हर बात में समाई हुई है ही क्योंकि हर बात अनुभवी बनाने के निमित्त बनती है। धीरज का पाठ पढ़ा देती है। दूसरा आवेश कर रहा है और आप उस समय धीरज वा सहनशीलता का पाठ पढ़ रहे हो, इसलिए कहते हैं जो हो रहा है वह अच्छा और जो होना है वह और अच्छा। अच्छाई उठाने की सिर्फ बुद्धि चाहिए। बुराई को न देख अच्छाई उठा लो तो नम्बरवन बन जायेंगे।
स्लोगन:- सदा प्रसन्नचित रहना है तो साइलेन्स की शक्ति से बुराई को अच्छाई में परिवर्तन करो।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 24 September 2017 :- Click Here
Font Resize