26 october ki murli

TODAY MURLI 26 OCTOBER 2020 DAILY MURLI (English)

26/10/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, follow shrimat and serve Bharat to make it into heaven. First of all, you have to become viceless yourself and then tell others.
Question: What should you mahavir children not be concerned about? While checkingyourself, what must you be careful about?
Answer: If someone is obstructing you in your becoming pure, do not be concerned about it but simply check whether you are a mahavir. Am I deceiving myself? Do I have unlimited disinterest? Do I make others similar to myself? Do I have anger in me? Do I, myself do what I tell others to do?
Song: Having found You, we have found the whole world. The earth and the sky all belong to us!

Om shanti. You don’t need to say this here; it is a matter of understanding it. You sweetest, spiritual children understand that you are once again becoming deities, that you are becoming completely viceless. The Father comes and says: Children, conquer lust! That is, become pure! You children heard the song. You children have now remembered again that you claimed your unlimited inheritance from the unlimited Father. No one can snatch that away from you. There is no one there who could snatch it from you. That is called the undivided kingdom. Then, afterwards, the kingdom of Ravan belongs to others. You now understand this. You also have to explain in the same way that you are once again making Bharatviceless by following shrimat. Everyone says that God is the Highest on High. He alone is called the Father. Therefore, you also have to explain this and write that the Bharat that was completely viceless heaven has now become vicious hell. We are making Bharat into heaven again by following shrimat. Notedown the things that the Father tells you and churn the ocean of knowledge to help you write these things. What should we write so that people understand that Bharat really was heaven? There was no kingdom of Ravan at that time. It is in the intellects of you children that the Father is now making us people of Bharat viceless. First of all, each of you must check yourself: “Have I become viceless?” “Am I deceiving God?” “It isn’t that God is watching me.” Such words mustn’t emerge from your lips. You know that it is only the one Purifier Father who can make you pure. When Bharat was viceless, it was heaven. Those deities were completely viceless, were they not? As were the king and queen, so the subjects. Only then is the whole of Bharat called heaven. It is now hell. This picture of the ladder of 84 births is a very good thing. You can give it as a gift to someone who is good. Eminent people receive special gifts. Therefore, you too can explain this picture to those who come here and give it to them as a gift. You should always keep things ready to be given. You should also have theknowledge ready in you. All the knowledge is in the ladder. Remember how you have taken 84 births. This is something to be understood. Those who came at the beginning have definitely taken 84 births. The Father tells you about your 84 births and then says: I enter this one’s ordinary body at the end of the last of his many births. I name him Brahma. I create Brahmins through him. Otherwise, where would I bring Brahmins from? Have you ever heard of Brahma’s Father? He is definitely said to be God. Brahma and Vishnu are portrayed in the subtle region. The Father says: I enter this one at the end of his 84 births. When someone is adopted, his name is changed. He is also made to have renunciation. When sannyasis adopt renunciation, they don’t forget instantly; they definitely remember some things. You too remember some things, but you have disinterest in them because you know that everything is to be turned into a graveyard. Therefore, why should you remember those things? We have knowledge in order to understand everything very well. They too renounce their homes etc, with knowledge. If you were to ask them how they left their homes they wouldn’t tell you. You could then speak to them with diplomacy and ask them: “How did you have disinterest? Tell us so that we too can do the same. You give us thetemptation to become pure. However, you remember everything of your past.” They can tell you everything right from their childhood. The whole knowledge of how you areactors playing your parts in this drama is in your intellects. All of your iron-aged, karmic bondages now have to be broken off. You will then go to the land of peace. There, everyone will have new relationships. Baba continues to give you many good points for explaining. Those people of Bharat who belonged to the original, eternal, deity religion were completelyviceless. Now, having taken 84 births, they have become vicious. They now have to become vicelessagain. However, someone is definitely needed to inspire them to make effort. The Father has now shown you everything. The Father says: You are the same ones, are you not? Children also say: Baba, You are the same One. The Father says: I taught you in the previous cycle and gave you your fortune of the kingdom. I will continue to do the same every cycle. Whatever happened in the drama, whatever obstacles there were previously, there will be the same obstacles again. Whatever happens in your life you are able to remember that. This one remembers everything. He tells you how he was a village urchin and how he then became the master of the world. It is only now that you understand what sort of village there would be in Paradise. At this time, this old world is like a village for you. There is a vast difference between Paradise and hell. Seeing huge palaces and buildings, people think that it is heaven here. The Father says: All of this is clay and stone; it has no value. It is diamonds that are the mostvaluable. The Father says: Just imagine what your palaces of gold in the golden age were like! All the mines there were full. There was plenty of gold there. Therefore, you children should experience so much happiness! Baba explains: Whenever you feel that you are wilting, there are somerecords you can play which will instantly bring you into happiness. Then, all the knowledge will enter your intellects. You understand that Baba is making you into the masters of the world. No one can snatch that away from you. We become the masters of the land of happiness for half the cycle. A prince understands that he is the heir of a limited kingdom. You should have so much intoxication of being the heirs of the unlimited Father. The Father is establishing heaven and you are becoming heirs for 21 births. You should have so much happiness! Also, you definitely have to remember the One whose heirs you have become. You cannot become an heir without remembering Him. Only when you remember Him can you become pure and then become an heir. You know that by following shrimat you are becoming the double-crowned masters of the world; you will rule a kingdom for birth after birth. People on the path of devotion make perishable donations and perform perishable charity. Your wealth of knowledge is imperishable. You win such a big lottery. The fruit you receive is according to your actions. Someone who becomes the son of a great king is said to have won a big limited lottery. Those who are singlecrowned cannot be the masters of the whole world. You become the double-crowned masters of the world. At that time, there is no other kingdom. All the other religions come later on. Until those religions expand, the earlier kings come into conflict and, because of beingvicious, they continue to divide everything up. At first, there was just the one kingdom throughout the whole world. There, you wouldn’t say that that is the fruit of karma of the previous birth. The Father is now teaching you children how to perform elevated actions. Whatever actions you perform and whateverservice you do, you will accordingly receive thereturn of that. You have to perform good actions. If you have to do something that you don’t understand, then take shrimat. You should repeatedly ask by letter. Look at the PrimeMinister! You can understand how much posthe receives. However, he doesn’t read all of that himself. He has manysecretaries who look through all his post. The secretaries only put the important post on thePrime Minister’s table. It is the same here. Baba instantly responds to important letters. For others, Baba just sends love and remembrance. It is impossible for Baba to sit and write letters to each and every one individually; that would be very difficult. You children experience so much happiness: Oho! Today, I have received a letter from the unlimited Father! Shiv Baba respondsthrough Brahma. You children experience great happiness. It is those who are in bondage who bubble up with happiness the most. Oho! I am in bondage and yet the unlimited Father has written a letter to me! They lift the letter to their eyes. On the path of ignorance, a wife considers her husband to be her god. Therefore, when she receives a letter from him, she kisses it. Many children among you also experience goose pimples when they receive a letter from BapDada. They have tears of love. They kiss the letter and lift it to their eyes. They read the letter with a lot of love. Those who are in bondage are no less. Maya defeats some children. Some understand that they definitely have to remain pure. Bharat was viceless. It is now vicious. Those who want to become vicelessmake exactly the same effort that they did in the previous cycle. There is a very easy way for you children to explain. This is your plan too. This is now the age of the Gita. “The most elevated age of the Gita” has been remembered. You should write: This is the most elevated age of the Gita, when the old world is changed into a new world. Your intellects understand that you are studying Raj Yoga with the unlimited Father who is also yourTeacher. If you study well you will becomedoublecrowned. This is such a big school! A kingdom is being established. There will also be many different types of subjects. The kingdom continues to expand. Those who take less knowledge will come later on. According to the efforts you make, you will come at the beginning. This play is predestined. This cycle of the drama repeats. You are now receiving your inheritance from the Father. The Father says: Become pure! If someone creates obstacles, you mustn’t take any notice. At least you will get a piece of chapatti. You children must make effort and you will then be able to stay in remembrance. Baba gives you the example of the path of devotion: At thetime of worshipping, if the intellect’s yoga was wandering outside, he would pull his ears or slap himself. This is knowledge. The main thing in this is remembrance. If you are unable to stay in remembrance, slap yourself! Why is Maya defeating me? Am I that weak? I have to conquer her. You have to take great care of yourself. Ask yourself: Am I such a mahavir? You also have to make effort to make others into mahavirs. The more you make others similar to yourself, the higher the status you receive. You have to race in order to claim your fortune of the kingdom. If I have anger in me, how can I tell someone else not to become angry? That isn’t honest. You should be ashamed. If you explain to others and they become elevated, but you still remain degraded, what kind of effort is that? By remembering the Father you go from this ocean of poison to the ocean of milk (Story of the pundit). The Father sits here and explains all of these examples that are thenrepeated on the path of devotion. There is also the example of the buzzing moth. You are Brahminis,BKs, the true Brahmins. Where is Prajapita Brahma? He definitely has to be here. He would not be there. You children have to become very clever. Baba’s plan is to change ordinary human beings into deities. There is a picture to explain this. There should also be writing to match it. This is the plan of the God of the Gita. We Brahmins are topknots. You couldn’t speak of just one. Since there is Prajapita Brahma, there are also the topknots of Brahmins. Brahma is the father of all Brahmins. At this time, the family is so great. You then become part of the deity family. At this time, you experience great happiness because of the lottery you win. You are glorified a great deal. Salutations to the mothers! You are the Shiv Shakti Army, are you not? All of those are false. Because there are many of those, (different groups), people have become confused. This is why it requires effort to establish a kingdom. The Father says: This drama is predestined. I too have apart in it. I am the Almighty Authority. By remembering Me, you become pure. Shiv Baba is the greatest Magnet. He resides in the highest place of all. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Constantly maintain the intoxication and happiness that you have become Baba’s unlimited heirs for 21 births. You definitely have to remember the One whose heirs you have become and you must also become pure.
  2. Only perform the elevated acts that the Father teaches you. Continue to take shrimat.
Blessing: May you be a world transformer who experiences the stage of ascent by paying full attention to your mind.
Now, in the final moments, you have to become an instrument for world transformation with your mind. Therefore, if you waste even one thought through with mind, you then lose a lot. Do not consider one thought to be something ordinary. At present, any upheaval of thoughts is considered to be a huge upheaval because the time has now changed and the speed of effort has to change. Therefore, a full stop is needed for your thoughts. When you pay this muchattention to your mind and your thoughts, world transformation will then take place through your ascending stage.
Slogan: To experience yoga while in action means to be a karma yogi.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 26 OCTOBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 26 October 2020

Murli Pdf for Print : – 

26-10-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – श्रीमत पर भारत को स्वर्ग बनाने की सेवा करनी है, पहले स्वयं निर्विकारी बनना है फिर दूसरों को कहना है”
प्रश्नः- तुम महावीर बच्चों को किस बात की परवाह नहीं करनी है? सिर्फ कौन सी चेकिंग करते स्वयं को सम्भालना है?
उत्तर:- अगर कोई पवित्र बनने में विघ्न डालता है तो तुम्हें उसकी परवाह नहीं करनी है। सिर्फ चेक करो कि मैं महावीर हूँ? मैं अपने आपको ठगता तो नहीं हूँ? बेहद का वैराग्य रहता है? मैं आप समान बनाता हूँ? मेरे में क्रोध तो नहीं है? जो दूसरों को कहता हूँ वह खुद भी करता हूँ?
गीत:- तुम्हें पाके हमने……..

ओम् शान्ति। इसमें बोलने का नहीं रहता, यह समझने की बात है। मीठे-मीठे रूहानी बच्चे समझ रहे हैं कि हम फिर से देवता बन रहे हैं। सम्पूर्ण निर्विकारी बन रहे हैं। बाप आकर कहते हैं – बच्चे, काम को जीतो अर्थात् पवित्र बनो। बच्चों ने गीत सुना। अब फिर से बच्चों को स्मृति आई है – हम बेहद के बाप से बेहद का वर्सा लेते हैं, जो कोई छीन न सके, वहाँ दूसरा कोई छीनने वाला होता ही नहीं है। उसको कहा जाता है अद्वैत राज्य। फिर बाद में रावण राज्य दूसरे का होता है। अभी तुम समझ रहे हो। समझाना भी ऐसे है। हम फिर से भारत को श्रीमत पर वाइसलेस बना रहे हैं। ऊंच ते ऊंच भगवान तो सब कहेंगे। उनको ही बाप कहा जाता है। तो यह भी समझाना है, लिखना भी है भारत जो सम्पूर्ण निर्विकारी स्वर्ग था वह अब विकारी नर्क बन गया है। फिर हम श्रीमत पर भारत को स्वर्ग बना रहे हैं। बाप जो बताते हैं उसको नोट कर फिर उस पर विचार सागर मंथन कर लिखने में मदद करनी चाहिए। ऐसा क्या-क्या लिखें जो मनुष्य समझें भारत बरोबर स्वर्ग था? रावण का राज्य था नहीं। बच्चों को बुद्धि में है – अभी हम भारतवासियों को बाप वाइसलेस बना रहे हैं। पहले अपने को देखना है – हम निर्विकारी बने हैं? ईश्वर को मैं ठगता तो नहीं हूँ? ऐसे नहीं कि ईश्वर हमको देखता थोड़ेही है। तुम्हारे मुख से यह अक्षर निकल न सकें। तुम जानते हो पवित्र बनाने वाला पतित-पावन एक ही बाप है। भारत वाइसलेस था तो स्वर्ग था। यह देवतायें सम्पूर्ण निर्विकारी हैं ना। यथा राजा रानी तथा प्रजा होगी, तब तो सारे भारत को स्वर्ग कहा जाता है ना। अभी नर्क है। यह 84 जन्मों की सीढ़ी बहुत अच्छी चीज़ है। कोई अच्छा हो तो उनको सौगात भी दे सकते हैं। बड़े-बड़े आदमियों को बड़ी सौगात मिलती है ना। तो तुम भी जो आते हैं, उनको समझाकर ऐसी-ऐसी सौगात दे सकते हो। चीज़ हमेशा देने के लिए तैयार रहती है। तुम्हारे पास भी नॉलेज तैयार रहनी चाहिए। सीढ़ी में पूरा ज्ञान है। हमने कैसे 84 जन्म लिए हैं – यह याद रहना चाहिए। यह समझ की बात है ना। जरूर जो पहले आये हैं उन्होंने ही 84 जन्म लिए हैं। बाप 84 जन्म बताकर फिर कहते हैं इनके बहुत जन्मों के अन्त में साधारण तन में प्रवेश करता हूँ। फिर इनका नाम रखता हूँ ब्रह्मा। इन द्वारा ब्राह्मण रचता हूँ। नहीं तो ब्राह्मण कहाँ से लाऊं। ब्रह्मा का बाप कभी सुना है क्या? जरूर भगवान ही कहेंगे। ब्रह्मा और विष्णु को दिखाते हैं सूक्ष्मवतन में हैं। बाप तो कहते हैं मैं इनके 84 जन्मों के अन्त में प्रवेश करता हूँ। एडाप्ट किया जाता है तो नाम बदली किया जाता है। संन्यास भी कराया जाता है। संन्यासी भी जब संन्यास करते हैं तो फौरन भूल नहीं जाते हैं, याद जरूर रहती है। तुमको भी याद रहेगी परन्तु तुमको उनके लिए वैराग्य है क्योंकि तुम जानते हो यह सब कब्रदाखिल होने हैं इसलिए हम उनको याद क्यों करें। ज्ञान से सब कुछ समझना है अच्छी रीति। वह भी ज्ञान से ही घरबार छोड़ते हैं। उनसे पूछा जाए घरबार कैसे छोड़ा तो बताते नहीं। फिर उनको युक्ति से कहा जाता है – आपको कैसे वैराग्य आया है, हमको सुनाओ तो हम भी ऐसा करें। तुम टैम्पटेशन देते हो कि पवित्र बनो, बाकी तुमको याद सब है। छोटेपन से लेकर सब बता सकते हो। बुद्धि में सारा ज्ञान है। कैसे यह सब ड्रामा के एक्टर्स हैं जो पार्ट बजाते आये हैं। अभी सबके कलियुगी कर्मबन्धन टूटने हैं। फिर जायेंगे शान्तिधाम। वहाँ से फिर सबका नया सम्बन्ध जुटेगा। समझाने की प्वाइंट्स भी बाबा अच्छी-अच्छी देते रहते हैं। यही भारतवासी आदि सनातन देवी-देवता धर्म वाले थे तो वाइसलेस थे फिर 84 जन्मों के बाद विशश बनें। अब फिर वाइसलेस बनना है। परन्तु पुरूषार्थ कराने वाला चाहिए। अभी तुमको बाप ने बताया है। बाप कहते हैं तुम वही हो ना। बच्चे भी कहते हैं बाबा आप वही हैं। बाप कहते हैं कल्प पहले भी तुमको पढ़ाकर राज्य-भाग्य दिया था। कल्प-कल्प ऐसे करते रहेंगे। ड्रामा में जो कुछ हुआ, विघ्न पड़े, फिर भी पड़ेंगे। जीवन में क्या-क्या होता है, याद तो रहता है ना। इनको तो सब याद है। बतलाते भी हैं गांवड़े का छोरा था और बैकुण्ठ का मालिक बना। बैकुण्ठ में गांवड़ा कैसे होगा – यह तुम अभी जानते हो। इस समय तुम्हारे लिए भी यह पुरानी दुनिया गांवड़ा है ना। कहाँ बैकुण्ठ, कहाँ यह नर्क। मनुष्य तो बड़े-बड़े महल बिल्डिंग आदि देख समझते हैं यही स्वर्ग है। बाप कहते हैं यह तो सब मिट्टी, पत्थर हैं, इनकी कोई वैल्यु नहीं। वैल्यु सबसे जास्ती हीरे की होती है। बाप कहते हैं विचार करो सतयुग में तुम्हारे सोने के महल कैसे थे। वहाँ तो सब खानियां भरी होती हैं। ढेर का ढेर सोना होता है। तो बच्चों को कितनी खुशी होनी चाहिए। कोई समय मुरझाइस आती है तो बाबा ने समझाया है – कई ऐसे रिकार्ड हैं जो तुमको फौरन खुशी में ला देंगे। सारा ज्ञान बुद्धि में आ जाता है। समझते हो बाबा हमको विश्व का मालिक बनाते हैं। वह कभी कोई छीन न सके। आधा-कल्प के लिए हम सुखधाम का मालिक बनते हैं। राजा का बच्चा समझता है हम इस हद की राजाई के वारिस हैं। तुमको कितना नशा रहना चाहिए – हम बेहद के बाप के वारिस हैं। बाप स्वर्ग की स्थापना करते हैं, हम 21 जन्म के लिए वारिस बनते हैं। कितनी खुशी होनी चाहिए। जिसका वारिस बनते हैं उनको भी जरूर याद करना है। याद करने बिगर तो वारिस बन नहीं सकते। याद करे तो पवित्र बनें तब ही वारिस बन सकें। तुम जानते हो श्रीमत पर हम विश्व के मालिक डबल सिरताज बनते हैं। जन्म बाई जन्म हम राजाई करेंगे। मनुष्यों का भक्ति मार्ग में होता है विनाशी दान-पुण्य। तुम्हारा है अविनाशी ज्ञान धन। तुमको कितनी बड़ी लॉटरी मिलती है। कर्मों अनुसार फल मिलता है ना। कोई बड़े राजा का बच्चा बनता है तो बड़ी हद की लॉटरी कहेंगे। सिंगल ताज वाले सारे विश्व के मालिक तो बन न सकें। डबल ताज वाले विश्व के मालिक तुम बनते हो। उस समय दूसरी कोई राजाई है ही नहीं। फिर दूसरे धर्म बाद में आते हैं। वह जब तक वृद्धि को पायें तो पहले वाले राजायें विकारी बनने के कारण मतभेद में टुकड़े-टुकड़े अलग कर देते हैं। पहले तो सारे विश्व पर एक ही राज्य था। वहाँ ऐसे नहीं कहेंगे यह अगले जन्म के कर्मों का फल है। अभी बाप तुम बच्चों को श्रेष्ठ कर्म सिखला रहे हैं। जैसा-जैसा जो कर्म करेगा, सर्विस करेगा तो उसका रिटर्न भी ऐसा मिलेगा। अच्छा कर्म ही करना है। कोई कर्म करते हैं, समझ नहीं सकते तो उसके लिए श्रीमत लेनी है। घड़ी-घड़ी पूछना चाहिए पत्र में। अभी प्राइम मिनिस्टर है, तुम समझते हो कितनी पोस्ट आती होगी। परन्तु वह कोई अकेले नहीं पढ़ते हैं। उनके आगे बहुत पोटरी होते हैं, वह सारी पोस्ट देखते हैं। जो बिल्कुल मुख्य होगी, पास करेंगे तब प्राइम मिनिस्टर के टेबुल पर रखेंगे। यहाँ भी ऐसे होता है। मुख्य-मुख्य पत्रों का तो फौरन रेसपान्ड दे देते हैं। बाकी के लिए यादप्यार लिख देते हैं। एक-एक को अलग बैठ पत्र लिखें यह तो हो न सके, बड़ा मुश्किल है। बच्चों को कितनी खुशी होती है – ओहो! आज बेहद के बाप की चिट्ठी आई है। शिवबाबा ब्रह्मा द्वारा रेसपान्ड करते हैं। बच्चों को बड़ी खुशी होती है। सबसे जास्ती गद्-गद् होती हैं बांधेलियां। ओहो! हम बन्धन में हैं, बेहद का बाप हमको कैसे चिट्ठी लिखते हैं। नयनों पर रखती हैं। अज्ञानकाल में भी पति को परमात्मा समझने वालों को पति की चिट्ठी आती होगी तो उनको चुम्मन करेंगी। तुम्हारे में भी बापदादा का पत्र देख कर कई बच्चों के एकदम रोमांच खड़े हो जाते हैं। प्रेम के आंसू आ जाते हैं। चुम्मन करेंगी, आंखों पर रखेंगी। बहुत प्रेम से पत्र पढ़ती हैं। बांधेलियाँ कोई कम हैं क्या। कई बच्चों पर माया जीत पा लेती है। कोई तो समझते हैं हमको तो पवित्र जरूर बनना है। भारत वाइसलेस था ना। अब विशश है। अभी जो वाइसलेस बनने होंगे, वही पुरूषार्थ करेंगे – कल्प पहले मिसल। तुम बच्चों को समझाना बहुत सहज है। तुम्हारा भी यह प्लैन है ना। गीता का युग चल रहा है। गीता का ही पुरूषोत्तम युग गाया जाता है। तुम लिखो भी ऐसे – गीता का यह पुरूषोत्तम युग है। जबकि पुरानी दुनिया बदल नई होती है। तुम्हारी बुद्धि में है – बेहद का बाप जो हमारा टीचर भी है, उनसे हम राजयोग सीख रहे हैं। अच्छी रीति पढ़ेंगे तो डबल सिरताज बनेंगे। कितना बड़ा स्कूल है। राजाई स्थापन होती है। प्रजा भी जरूर अनेक प्रकार की होगी। राजाई वृद्धि को पाती रहेगी। कम ज्ञान उठाने वाले पीछे आयेंगे। जैसा जो पुरूषार्थ करेंगे वह पहले आते रहेंगे। यह सब बना-बनाया खेल है। यह ड्रामा का चक्र रिपीट होता है ना। अभी तुम बाप से वर्सा ले रहे हो। बाप कहते हैं पवित्र बनो। इसमें कोई विघ्न डालता है तो परवाह नहीं करनी चाहिए। रोटी टुकड़ तो मिल सकती है ना। बच्चों को पुरूषार्थ करना चाहिए तो याद रहेगी। बाबा भक्ति मार्ग का मिसाल बताते हैं – पूजा के टाइम बुद्धियोग बाहर में जाता था तो अपना कान पकड़ते थे, चमाट लगाते थे। अब तो यह है ज्ञान। इसमें भी मुख्य बात है याद की। याद न रहे तो अपने को थप्पड़ मारना चाहिए। माया मेरे ऊपर जीत क्यों पाती। क्या मैं इतना कच्चा हूँ। मुझे तो इन पर जीत पानी है। अपने आपको अच्छी रीति सम्भालना है। अपने से पूछो मैं इतना महावीर हूँ? औरों को भी महावीर बनाने का पुरूषार्थ करना है। जितना बहुतों को आपसमान बनायेंगे तो ऊंच दर्जा होगा। अपना राज्य-भाग्य लेने के लिए रेस करनी है। अगर हमारे में ही क्रोध है तो दूसरे को कैसे कहेंगे कि क्रोध नहीं करना है। सच्चाई नहीं हुई ना। लज्जा आनी चाहिए। दूसरों को समझायें और वह ऊंच बन जाए, हम नीचे ही रह जायें, यह भी कोई पुरूषार्थ है! (पण्डित की कहानी) बाप को याद करते तुम इस विषय सागर से क्षीर सागर में चले जाते हो। बाकी यह सब मिसाल बाप बैठ समझाते हैं, जो फिर भक्ति मार्ग में रिपीट करते हैं। भ्रमरी का भी मिसाल है। तुम ब्राह्मणियाँ हो ना – बी.के., यह तो सच्चे-सच्चे ब्राह्मण हुए। प्रजापिता ब्रह्मा कहाँ है? जरूर यहाँ होगा ना। वहाँ थोड़ेही होगा। तुम बच्चों को बहुत होशियार बनना चाहिए। बाबा का प्लैन है मनुष्य को देवता बनाने का। यह चित्र भी हैं समझाने के लिए। इनमें लिखत भी ऐसी होनी चाहिए। गीता के भगवान का यह प्लैन है ना। हम ब्राह्मण हैं चोटी। एक की बात थोड़ेही होती है। प्रजापिता ब्रह्मा तो चोटी ब्राह्मणों की हुई ना। ब्रह्मा है ही ब्राह्मणों का बाप। इस समय बड़ा भारी कुटुम्ब (परिवार) होगा ना। जो फिर तुम दैवी कुटुम्ब में आते हो। इस समय तुमको बहुत खुशी होती है क्योंकि लॉटरी मिलती है। तुम्हारा नाम बहुत है। वन्दे मातरम्, शिव की शक्ति सेना तुम हो ना। वह तो सब हैं झूठे। बहुत होने के कारण मूँझ पड़ते हैं इसलिए राजधानी स्थापन करने में मेहनत लगती है। बाप कहते हैं यह ड्रामा बना हुआ है। इनमें मेरा भी पार्ट है। मैं हूँ सर्व शक्तिमान। मेरे को याद करने से तुम पवित्र बन जाते हो। सबसे जास्ती चुम्बक है शिवबाबा, वही ऊंच ते ऊंच रहते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सदा इसी नशे वा खुशी में रहना है कि हम 21 जन्मों के लिए बेहद बाबा के वारिस बने हैं, जिनके वारिस बने हैं उनको याद भी करना है और पवित्र भी जरूर बनना है।

2) बाप जो श्रेष्ठ कर्म सिखला रहे हैं, वही कर्म करने हैं। श्रीमत लेते रहना है।

वरदान:- मन्सा पर फुल अटेन्शन देने वाले चढ़ती कला के अनुभवी विश्व परिवर्तक भव
अब लास्ट समय में मन्सा द्वारा ही विश्व परिवर्तन के निमित्त बनना है इसलिए अब मन्सा का एक संकल्प भी व्यर्थ हुआ तो बहुत कुछ गंवाया, एक संकल्प को भी साधारण बात न समझो, वर्तमान समय संकल्प की हलचल भी बड़ी हलचल गिनी जाती है क्योंकि अब समय बदल गया, पुरूषार्थ की गति भी बदल गई तो संकल्प में ही फुल स्टॉप चाहिए। जब मन्सा पर इतना अटेन्शन हो तब चढ़ती कला द्वारा विश्व परिवर्तक बन सकेंगे।
स्लोगन:- कर्म में योग का अनुभव होना अर्थात् कर्मयोगी बनना।

TODAY MURLI 26 OCTOBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 26 October 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 25 October 2019:- Click Here

26/10/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, if you want to refine your intellects, stay in remembrance of the one Father. It is only by having remembrance that you souls will continue to become pure and clean.
Question: At present, how do people waste their time and money?
Answer: When a soul leaves his body, they spend so much money etc. for that person. When a soul has shed his body and departed, the body has no value and this is why, no matter what they do for that person, they are only wasting their time and money.

Om shanti. The spiritual Father sits here and explains to the spiritual children. This one (Brahma) also says the same thing, be it the Father or Dada speaking. Dada would also say that the spiritual Father is speaking this knowledge of the past, present and future to you children. In fact, what happened from the golden age to the end of the silver age is the main thing. Otherwise, there is a lot of history and geography of what happened and who came etc. in the copper and iron ages. There is no history or geography of what happened in the golden and silver ages, but there is the history and geography of everything else. They have shown that the deities existed hundreds of thousands of years ago. That is unlimited senselessness. You too were senseless in an unlimited way. You now understand a little. Some of you don’t understand anything even now. A lot has to be understood. The Father has explained to you about the praise of Abu. You should think about this. It should enter your intellects whilst you are sitting here. When was your memorial, the Dilwala Temple, created and after how many years was it created? They say that it was built 1250 years ago. So, how many years remain? 3750 years remain. So, they have created a memorial of the present time and also a memorial of Paradise. There is competition even between temples: they used to make temples, each one better than the other. Now they don’t even have money to build them. There was a lot of wealth, and so they built such a big Somnath Temple. They couldn’t build that now. Although they continue to build such things in Agra etc., all of that is useless. Human beings are in darkness. Destruction will come even before they finish building. No one knows these things. They continue to demolish and build again. They continue to receive money for nothing and all of that continues to be wasted. It is a waste of time, a waste of money and a waste of energy. When a person dies, they waste so much time. We don’t do anything. The soul departed, so of what use is the skin (body)? When a snake sheds its skin, does it have any value? None at all. On the path of devotion, they value the skin. They worship non-living images so much. However, they don’t know when or how they came. That is called worship of the elements. They continue to worship the five elements. For instance, just think: Lakshmi and Narayan used to rule in the golden age. They completed their lifespans of 150 years and then shed their bodies and that was all. The bodies were then of no use. What value would they have there? The souls departed, and the bodies were handed over to the cremators and they simply burnt them according to the custom and system. They wouldn’t take those ashes and sprinkle them everywhere to earn a name. Not at all! Here, they do so much. They feed the brahmin priests and do so many other things. None of this happens there. A body is then of no use. They simply burn the body and just an image remains; and that too cannot be an accurate image. That stone idol of Adi Dev is not an accurate image. It has been made of stone from the time when they began worshipping. The real one who lived was burnt and finished and then they created those images on the path of devotion. You must also think about these things. You have to prove the praise of Abu very well. You are sitting here. It is also here that the Father makes the whole world into heaven from hell. Therefore, this is the highest pilgrimage place of all. Now they don’t have that much faith. They have faith in just the one Shiva; wherever you go, there will definitely be a Shiva Temple there. At Amarnath, they have a Shiva Temple. They say that Shankar related the story of immortality to Parvati. There could be no question of a religious story there. People don’t have any sense at all! You now have some sense, but did you know anything previously? Baba is now praising Abu so much. Of all the pilgrimages, this is the greatest pilgrimage. Baba explains a great deal, but it should also sit in the intellects of the specially beloved children. At present, there is a lot of body consciousness. A lot of knowledge is needed. There has to be a lot of refinement. At present, hardly anyone is able to have yoga. Together with yoga, knowledge is also needed. It isn’t that you just have to stay in yoga. Knowledge is definitely needed in yoga. In Delhi, they have given the name “Gyan Vigyan Bhavan” to a building, but they don’t understand the meaning of that. Gyan vigyan is of a second; the land of peace and the land of happiness. However, people don’t have any wisdom at all. They don’t understand the meaning of it. There were such great sannyasis such as Chinmayananda etc. who related the Gita and they still have so many followers. The greatest Guru of the world is the one Father. A guru is greater than a father and teacher. A woman would never have another husband, and so another guru should not be adopted either. When you adopt a guru, he has to grant you salvation; so then, why would other gurus be needed? Only the one unlimited Father is the Satguru. He is the One who grants salvation to everyone. However, there are many who don’t understand these things at all. The Father has explained that the kingdom is being established, and so it would be numberwise. Some don’t understand the least bit. Such are their parts in the drama! The Teacher can understand and the one through whose body He explains can also know. The jaggery knows and the bag containing the jaggery knows. Shiv Baba is called the Jaggery (contents). He knows everyone’s stage. He can understand from each one’s study how much they study and how much service they do, and to what extent each of you is making your life worthwhile in Baba’s service. It isn’t that Brahma becomes Lakshmi and Narayan just because he renounced his home and family; he also made effort. This knowledge is very elevated. If someone disobeys the Father, he completely turns to stone. Baba has explained that this is the Court of Indra. Shiv Baba is raining the rain of knowledge. If He is disobeyed by someone, it is mentioned in the scriptures, that that one became one with a stone intellect. This is why Baba continues to write to everyone: Be cautious before bringing someone with you. It shouldn’t be that impure ones who indulge in vice come and sit here. In that case, the Brahmin teacher who brings them would be blamed for that. You shouldn’t bring anyone like that here. It is a huge responsibility. The Father is the Highest on High. He gives you the sovereignty of the world, and so you should have so much regard for Him. Many continue to remember their friends and relatives; they don’t have remembrance of the Father. They continue to choke inside. The Father explains: This is the devilish world. The divine world is now being created: this is our aim and objective. We have to become like Lakshmi and Narayan. Whatever pictures there are, you know the biography of all of them. So much effort is made to explain to people. You too would think that so and so is good and wise and that other one doesn’t understand anything. However much knowledge any one of you children has taken, you are doing service according to that. The main thing is the God of the Gita. This is the only scripture of the sun-dynasty deities. There aren’t different ones; nor is there a different one for Brahmins either. These matters have to be understood very well. If someone falls into vice whilst moving along on the path of knowledge, the knowledge flows away. Very good ones who indulged in vice then became those with stone intellects. Very good understanding is required. You have to chew (churn) whatever the Father explains to you. It is very easy for you here because you don’t have any mundane business, upheaval etc. here. When living outside, there is so much worry about one’s business etc. Maya brings many storms. There is no mundane business here. There is just solitude everywhere. The Father still continues to inspire you children to make effort. This Baba is also an effort-maker. It is the Father who is inspiring you to make effort. You have to churn the ocean of knowledge in this. The Father is sitting here with you children. Only those who give their whole finger are said to be serviceable. Those who continue to choke cause a lot of loss and, furthermore, do disservice; they create obstacles. You know that those who become emperors and empresses will also need to have maids and servants. They too will be from here. Everything depends on how you study. This body has to be shed in happiness. There is no question of sorrow. You have been given time to make effort. The knowledge is of just a second. It is in your intellects that you receive the inheritance from Shiv Baba. If you hear just a little knowledge and remember Shiv Baba, you can go there. Many subjects are to be created. Our sun dynasty and moon dynasty kingdoms are being established here. If, after belonging to the Father, you cause defamation, a great burden would be accumulated. You would go completely into the depths of hell. Baba has explained: How can those who have themselves worshipped be called those who are worthy of worship? Only the one Father is the Bestower of Salvation for All and the One who benefits everyone. People don’t even understand the meaning of peace. They consider pranayama (breathing exercises) etc. in hatha yoga etc. to be peace. That requires a lot of effort. Some people’s brains also get damaged by that. There is no attainment at all. That is temporary peace. Just as they say that happiness is temporary and like the droppings of a crow, so that peace too is like the droppings of a crow. That is for a temporary period. The Father gives you both peace and happiness for 21 births. Some will remain in the land of peace till the end. According to their parts, they won’t be able to see as much happiness. The status there will also be numberwise. Although they will become maids and servants, they will not be able to push their way inside. They won’t even be able to see Krishna. Everyone will have their own palace. There will be a fixed time to see him. For instance, when the Pope comes, so many people go to have a glimpse of him. Many such people who make a great impact will emerge. Hundreds of thousands of people will go to have a glimpse of them. How can you have a glimpse of Shiv Baba here? This is something to be understood. Now, how can the world know that this is the greatest pilgrimage place of all? Perhaps there are also other temples like the Dilwala Temple nearby; you should go and see them too and see how they are built. There is no need to give them knowledge – they would then begin to give knowledge to you. People give advice: You should do this and this. They don’t even know who it is that is teaching you. It requires effort to explain to each one individually. There are stories about this too. It was said: A lion has come, a lion has come… You too say that death is almost here and they don’t believe you. They think 40,000 years still remain, so how can death come? However, death definitely has to come and it will take everyone. There is no rubbish there. There is so much difference between the cows here and the cows there. Krishna didn’t graze cows. He would probably receive milk via a helicopter. All of that rubbish would be far away from him. He wouldn’t have had rubbish in front of his home. There is limitless happiness there for which you now have to make full effort. So many good children come from the centres. Baba is pleased to see them. Flowers emerge, numberwise, according to the effort they make. Those who are flowers consider themselves to be flowers. In Delhi, too, children do so much service day and night. Knowledge is also so elevated. Previously, you didn’t know anything. You now have to make so much effort. Baba receives all the news. He relates the news of some but not of others because there are also many traitors. Those who are firstclass also become traitors. Even third-class ones become traitors. They receive a little knowledge and they then consider themselves to be Shiv Baba’s Baba! They don’t have any recognition of who it is giving them knowledge. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. You have to have a lot of regard for the Father who gives you the sovereignty of the world. Make your life worthwhile in the Father’s service. Pay full attention to the study.
  2. Churn the ocean of knowledge that you receive from the Father. Never become an obstacle. Never do disservice. Do not become arrogant.
Blessing: May you be an elevated soul who celebrates the memorial of both the incorporeal and the corporeal forms according to the discipline.
Deepmala (Festival of the garland of lights) is a memorial of the many imperishable ignited lamps. You sparkling souls are seen as the flames of lamps, and so the memorial of the divine lights of the sparkling souls is shown in the form of the physical lights of lamps. Therefore, on one hand there is the memorial of incorporeal souls, and on the other hand, there is the memorial of your future corporeal divine forms in the form of Lakshmi. This Deepmala enables each of you to attain a deity status. So, you elevated souls celebrate your own memorial.
Slogan: In order to change the negative into positive, let your feelings be pure and unlimited.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 26 OCTOBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 26 October 2019

To Read Murli 25 October 2019:- Click Here
26-10-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बुद्धि को रिफाइन बनाना है तो एक बाप की याद में रहो, याद से ही आत्मा स्वच्छ बनती जायेगी”
प्रश्नः- वर्तमान समय मनुष्य अपना टाइम व मनी वेस्ट कैसे कर रहे हैं?
उत्तर:- जब कोई शरीर छोड़ता है तो उनके पीछे कितना पैसा आदि खर्च करते रहते हैं। जब शरीर छोड़कर चला गया तो उसकी कोई वैल्यु तो रही नहीं, इसलिए उसके पिछाड़ी जो कुछ करते हैं उसमें अपना टाइम और मनी वेस्ट करते हैं।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप बैठ रूहानी बच्चों को समझाते हैं, यह भी ऐसे कहते हैं ना, फिर बाप है या दादा है। दादा भी कहेंगे रूहानी बाप तुम बच्चों को यह नॉलेज सुनाते हैं – पास्ट, प्रेजन्ट, फ्युचर का। वास्तव में सतयुग से लेकर त्रेता अन्त तक क्या हुआ है, यह है मुख्य बात। बाकी द्वापर-कलियुग में कौन-कौन आये, क्या हुआ, उनकी हिस्ट्री-जॉग्राफी तो बहुत है। सतयुग-त्रेता की कोई हिस्ट्री-जॉग्राफी है नहीं और तो सबकी हिस्ट्री-जॉग्राफी है, बाकी देवी-देवताओं को लाखों वर्ष पहले ले गये हैं। यह है बेहद की बेसमझी। तुम भी बेहद की बेसमझी में थे। अभी थोड़ा-थोड़ा समझ रहे हो। कोई तो अभी भी कुछ समझते नहीं हैं। बहुत कुछ समझने का है। बाप ने आबू की महिमा पर समझाया है, इस पर ख्याल करना चाहिए। तुम्हारी बुद्धि में आना चाहिए तुम यहाँ बैठे हो। तुम्हारा यादगार देलवाड़ा मन्दिर कब बना है, कितने वर्ष बाद बना है। कहते हैं 1250 वर्ष हुए हैं तो बाकी कितने वर्ष रहे? 3750 वर्ष रहे। तो उन्होंने भी अभी का यादगार और बैकुण्ठ का यादगार बनाया है। मन्दिरों की भी काम्पीटीशन होती है ना। एक-दो से अच्छा बनायेंगे। अभी तो पैसा ही कहाँ है जो बनावें। पैसा तो बहुत था, तो सोमनाथ का मन्दिर कितना बड़ा बनाया है। अभी तो बना न सकें। भल आगरे आदि में बनाते रहते हैं परन्तु वह सब है फालतू। मनुष्य तो अन्धियारे में हैं ना। जब तक बनावें तब तक विनाश भी आ जायेगा। यह बातें कोई भी नहीं जानते हैं। तोड़ते और बनाते रहते हैं। पैसे मुफ्त में आते रहते हैं। सब वेस्ट होता रहता है। वेस्ट ऑफ टाइम, वेस्ट ऑफ मनी, वेस्ट ऑफ एनर्जी। कोई मरता है तो कितना टाइम गँवाते हैं। हम कुछ भी नहीं करते। आत्मा तो चली गई, बाकी खाल क्या काम की। सर्प खाल छोड़ देता है, उनकी कोई वैल्यु है क्या। कुछ भी नहीं। भक्ति मार्ग में खाल की वैल्यु है। जड़ चित्र की कितनी पूजा करते हैं। परन्तु यह कब आये, कैसे आये। कुछ भी पता नहीं है। इनको कहा जाता है भूत पूजा। पांच तत्वों की पूजा करते हैं। समझो यह लक्ष्मी-नारायण स्वर्ग में राज्य करते थे, अच्छा 150 वर्ष आयु पूरी हुई, शरीर छोड़ दिया, बस। शरीर तो कोई काम का न रहा। उनकी वहाँ क्या वैल्यु होगी। आत्मा चली गई, शरीर चण्डाल के हाथ दे दिया, वह रसम-रिवाज अनुसार जला देंगे। ऐसे नहीं उनकी मिट्टी लेकर उड़ायेंगे नाम करने के लिए। कुछ भी नहीं। यहाँ तो कितना करते हैं। ब्राह्मण खिलाते हैं, यह करते हैं। वहाँ यह कुछ होता नहीं। खाल तो कोई काम की नहीं रही। खाल को जला देते हैं। बाकी चित्र रहते हैं। सो भी एक्यूरेट चित्र मिल न सकें। यह आदि देव की पत्थर की मूर्ति एक्यूरेट थोड़ेही है। पूजा जब शुरू की है तब के पत्थर की है। असुल जो था वह तो जलकर खत्म हो गया ना फिर भक्ति मार्ग में यह निकला है। इन बातों पर भी सोच तो चलता है ना। आबू की महिमा को अच्छी रीति सिद्ध करना है। तुम भी यहाँ बैठे हो। यहाँ ही बाप सारे विश्व को नर्क से स्वर्ग बना रहे हैं तो यही सबसे ऊंच ते ऊंच तीर्थ ठहरा। अभी इतनी भावना नहीं है सिर्फ एक शिव में भावना है, कहाँ भी जाओ शिव का मन्दिर जरूर होगा। अमरनाथ में भी शिव का ही है। कहते हैं शंकर ने पार्वती को कथा सुनाई। वहाँ तो कथा की बात ही नहीं। मनुष्यों को कुछ भी समझ नहीं है। अभी तुमको समझ आई है, आगे पता था क्या।

अभी बाबा आबू की कितनी महिमा करते हैं। सर्व तीर्थों में यह महान् तीर्थ है। बाबा समझाते तो बहुत हैं, परन्तु जबकि अनन्य बच्चों की बुद्धि में बैठे, अभी तो देह-अभिमान बहुत है। ज्ञान तो बहुत ढेर चाहिए। रिफाइननेस बहुत आनी है। अभी तो योग बड़ा मुश्किल कोई का लगता है। योग के साथ फिर नॉलेज भी चाहिए। ऐसे नहीं सिर्फ योग में रहना है। योग में नॉलेज जरूर चाहिए। देहली में ज्ञान-विज्ञान भवन नाम रखा है परन्तु इनका अर्थ क्या है, यह समझते थोड़ेही हैं। ज्ञान-विज्ञान तो सेकण्ड का है। शान्तिधाम, सुखधाम। परन्तु मनुष्यों में जरा भी बुद्धि नहीं है। अर्थ थोड़ेही समझते हैं। चिन्मियानंद आदि कितने बड़े-बड़े सन्यासी आदि हैं, गीता सुनाते हैं, कितने उन्हों के ढेर फालोअर्स हैं। सबसे बड़ा जगत का गुरू तो एक ही बाप है। बाप और टीचर से बड़ा गुरू होता है। स्त्री कभी दूसरा पति नहीं करेगी तो गुरू भी दूसरा नहीं करना चाहिए। एक गुरू किया, उनको ही सद्गति करनी है फिर और गुरू क्यों? सतगुरू तो एक ही बेहद का बाप है। सबकी सद्गति करने वाला है। परन्तु इन बातों को बहुत हैं जो बिल्कुल समझते नहीं। बाप ने समझाया है यह राज-धानी स्थापन हो रही है, तो नम्बरवार होंगे ना। कोई तो रिंचक भी समझ नहीं सकते। ड्रामा में पार्ट ऐसा है। टीचर तो समझ सकते हैं। जिस शरीर द्वारा समझाते हैं उनको भी तो मालूम पड़ता होगा। यह तो गुड़ जाने, गुड़ की गोथरी जाने। गुड़ शिवबाबा को कहा जाता है, वह सबकी अवस्था को जानते हैं। हरेक की पढ़ाई से समझ सकते हैं – कौन कैसे पढ़ते हैं, कितनी सर्विस करते हैं। कितना बाबा की सर्विस में जीवन सफल करते हैं। ऐसे नहीं, इस ब्रह्मा ने घरबार छोड़ा है इसलिए लक्ष्मी-नारायण बनते हैं। मेहनत करते हैं ना। यह नॉलेज बहुत ऊंची है। कोई अगर बाप की अवज्ञा करते हैं तो एकदम पत्थर बन पड़ते हैं। बाबा ने समझाया था – यह इन्द्रसभा है। शिवबाबा ज्ञान वर्षा करते हैं। उनकी अवज्ञा की तो शास्त्रों में लिखा हुआ है पत्थरबुद्धि हो गये इसलिए बाबा सबको लिखते रहते हैं। साथ में सम्भाल से कोई को ले आओ। ऐसे नहीं, विकारी अपवित्र यहाँ आकर बैठे। नहीं तो फिर ले आने वाली ब्राह्मणी पर दोष पड़ जाता है। ऐसे कोई को ले नहीं आना है। बड़ी रेसपॉन्सिबिलिटी है। बहुत ऊंच ते ऊंच बाप है। तुमको विश्व की बादशाही देते हैं तो उनका कितना रिगार्ड रखना चाहिए। बहुतों को मित्र-सम्बन्धी आदि याद पड़ते हैं, बाप की याद है नहीं। अन्दर ही घुटका खाते रहते हैं। बाप समझाते हैं – यह है आसुरी दुनिया। अभी दैवी दुनिया बनती है, हमारी एम ऑबजेक्ट यह है। यह लक्ष्मी-नारायण बनना है। जो भी चित्र हैं, सबकी बायोग्राफी को तुम जानते हो। मनुष्यों को समझाने के लिए कितनी मेहनत की जाती है। तुम भी समझते होंगे, यह कुछ अच्छा बुद्धिवान है। यह तो कुछ नहीं सम-झते हैं। तुम बच्चों में जिसने जितना ज्ञान उठाया है, उस अनुसार ही सर्विस कर रहे हैं। मुख्य बात है ही गीता के भगवान की। सूर्यवंशी देवी-देवताओं का यह एक ही शास्त्र है। अलग-अलग नहीं है। ब्राह्मणों का भी अलग नहीं है। यह बड़ी समझने की बातें हैं। इस ज्ञान मार्ग में भी चलते-चलते अगर विकार में गिर पड़े, तो ज्ञान बह जायेगा। बहुत अच्छे-अच्छे जाकर विकारी बने तो पत्थरबुद्धि हो गये। इसमें बड़ी समझ चाहिए। बाप जो समझाते हैं उनको उगारना चाहिए। यहाँ तो तुमको बहुत सहज है, कोई गोरखधन्धा, हंगामा आदि नहीं। बाहर में रहने से धन्धे आदि की कितनी चिंता रहती है। माया खूब त़ूफान में लाती है। यहाँ तो कोई गोरखधन्धा नहीं। एकान्त लगी पड़ी है। बाप तो फिर भी बच्चों को पुरूषार्थ कराते रहते हैं। यह बाबा भी पुरूषार्थी है। पुरूषार्थ कराने वाला तो बाप है। इसमें विचार सागर मंथन करना पड़ता है। यहाँ तो बाप बच्चों के साथ बैठे हैं। जो पूरी अंगुली देते हैं उनको ही सर्विसएबुल कहेंगे। बाकी घुटका खाने वाले तो नुकसान करते हैं और ही डिससर्विस करते हैं, विघ्न डालते हैं। यह तो जानते हो – महाराजा-महारानी बनेंगे तो उन्हों के दास-दासियां भी चाहिए। वह भी यहाँ के ही आयेंगे। सारा मदार पढ़ाई पर है। इस शरीर को भी खुशी से छोड़ना है, दु:ख की बात नहीं। पुरूषार्थ के लिए टाइम तो मिला हुआ है। ज्ञान सेकेण्ड का है, बुद्धि में है शिवबाबा से वर्सा मिलता है। थोड़ा भी ज्ञान सुना, शिवबाबा को याद किया तो भी आ सकते हैं। प्रजा तो बहुत बनने की है हमारी राजधानी सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी यहाँ स्थापन हो रही है। बाप का बनकर अगर ग्लानि करते हैं तो बहुत बोझा चढ़ता है। एकदम जैसे रसातल में चले जाते हैं। बाबा ने समझाया है जो अपनी पूजा बैठ कराते हैं वह पूज्य कैसे कहला सकते। सर्व का सद्गति दाता, कल्याण करने वाला तो एक ही बाप है। मनुष्य तो शान्ति का भी अर्थ नहीं समझते हैं। हठयोग से प्राणायाम आदि चढ़ाना, उसको ही शान्ति समझते हैं। उसमें भी बहुत मेहनत लगती है, कोई की ब्रेन खराब हो जाती है। प्राप्ति कुछ भी नहीं। वह है अल्पकाल की शान्ति। जैसे सुख को अल्पकाल काग विष्टा समान कहते हैं वैसे वह शान्ति भी काग विष्टा के समान है। वह है ही अल्पकाल के लिए। बाप तो 21 जन्मों के लिए तुमको सुख-शान्ति दोनों देते हैं। कोई तो शान्तिधाम में पिछाड़ी तक रहते होंगे। जिनका पार्ट है, वह इतना सुख थोड़ेही देख सकेंगे। वहाँ भी नम्बरवार मर्तबे तो होंगे ना। भल दास-दासियां होंगे परन्तु अन्दर थोड़ेही घुस सकेंगे। कृष्ण को भी देख न सकें। सबके अलग-अलग महल होंगे ना। कोई टाइम होगा देखने का। जैसे देखो पोप आता है तो उनका दर्शन करने के लिए कितने लोग जाते हैं। ऐसे बहुत निकलेंगे, जिनका बहुत प्रभाव होगा। लाखों मनुष्य जायेंगे दर्शन करने के लिए। यहाँ शिवबाबा का दर्शन कैसे होगा? यह तो समझने की बात है।

अब दुनिया को कैसे पता पड़े कि यह सबसे ऊंच तीर्थ है। देलवाड़ा जैसा मन्दिर शायद आसपास और भी हो, वह भी जाकर देखना चाहिए। कैसे बना हुआ है। उनको ज्ञान देने की भी दरकार नहीं। वह फिर तुमको ज्ञान देने लग जायेंगे। राय देते हैं ना – यह करना चाहिए, यह करना चाहिए। यह तो जानते नहीं कि इनको पढ़ाने वाला कौन है। एक-एक को समझाने में मेहनत लगती है। उन पर कहानियाँ भी हैं। कहते थे शेर आया, शेर आया…….। तुम भी कहते हो मौत आया कि आया तो वह विश्वास नहीं करते हैं। समझते हैं अभी तो 40 हज़ार वर्ष पड़े हैं, मौत कहाँ से आयेगा। परन्तु मौत आना तो जरूर है, सबको ले जायेंगे। वहाँ कोई भी किचड़ा होता नहीं। यहाँ की गऊ और वहाँ की गऊ में भी कितना फ़र्क है। कृष्ण थोड़ेही गऊयें चराता था। उन्हों के पास तो दूध हेलीकाप्टर में आता होगा। यह किचड़पट्टी दूर रहती होगी। सामने घर में थोड़ेही किचड़ा रहेगा। वहाँ तो अपरमअपार सुख हैं, जिसके लिए पूरा पुरूषार्थ करना है। कितने अच्छे-अच्छे बच्चे सेन्टर से आते हैं। बाबा देखकर कितना खुश होते हैं। नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार फूल निकलते हैं। फूल जो हैं वह अपने को भी फूल समझते हैं। देहली में भी बच्चे कितनी सर्विस करते हैं रात-दिन। ज्ञान भी कितना ऊंच है। आगे तो कुछ नहीं जानते थे। अब कितनी मेहनत करनी पड़ती है। बाबा के पास तो सब समाचार आते हैं। कोई का सुनाते हैं, कोई का नहीं सुनाते हैं क्योंकि ट्रेटर भी बहुत होते हैं। बहुत फर्स्टक्लास भी ट्रेटर्स बन पड़ते हैं। थर्डक्लास भी ट्रेटर हैं। थोड़ा ज्ञान मिला तो समझते हैं हम शिवबाबा के भी बाबा बन गये। पहचान तो है नहीं कि कौन नॉलेज देते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) विश्व की बादशाही देने वाले बाप का बहुत-बहुत रिगार्ड रखना है। बाप की सर्विस में अपनी जीवन सफल करनी है, पढ़ाई पर पूरा-पूरा ध्यान देना है।

2) बाप से जो ज्ञान मिलता है उस पर विचार सागर मंथन करना है। कभी भी विघ्न रूप नहीं बनना है। डिस-सर्विस नहीं करनी है। अहंकार में नहीं आना है।

वरदान:- निराकार और साकार दोनों रूपों के यादगार को विधिपूर्वक मनाने वाली श्रेष्ठ आत्मा भव
दीपमाला अविनाशी अनेक जगे हुए दीपकों का यादगार है। आप चमकती हुई आत्मायें दीपक की लौ मिसल दिखाई देती हो इसलिए चमकती हुई आत्मायें दिव्य ज्योति का यादगार स्थूल दीपक की ज्योति में दिखाया है तो एक तरफ निराकारी आत्मा के रूप का यादगार है, दूसरी तरफ आपके ही भविष्य साकार दिव्य स्वरूप लक्ष्मी के रूप में यादगार है। यही दीपमाला देव-पद प्राप्त करती है। तो आप श्रेष्ठ आत्मायें अपना यादगार स्वयं ही मना रहे हो।
स्लोगन:- निगेटिव को पॉजिटिव में चेंज करने के लिए अपनी भावनाओं को शुभ और बेहद की बनाओ।

TODAY MURLI 26 OCTOBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 26 October 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 25 October 2018 :- Click Here

26/10/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, follow shrimat and all your treasure-stores will be completely full. Your fortune will become elevated.
Question: What has this iron age become bankrupt in? Because of becoming bankrupt, what has its condition become?
Answer: The iron age has become bankrupt of purity, happiness and peace. This is why Bharat has become the land of sorrow from the land of happiness and like shells from diamonds. This whole play is based on Bharat. The Father is now telling you children the beginning, middle and end of this play. Only the fortunate children can understand this knowledge very clearly.
Song: No one is as unique as the Innocent Lord. 

Om shanti. God speaks. Which God? The Innocent Lord, God Shiva speaks. The Father explains to you. The Teacher’s duty is also to explain to you. The duty of the Satguru too is to explain to you. Only Shiv Baba is called the true Baba. He is called the Innocent Lord. Shankar cannot be called innocent. It is said of him that when he opened his eye, he burnt the world. Shiva is called the Innocent Lord of the Treasures, that is, He is the One who makes your treasure-stores completely full. Which treasure-stores? Those of wealth, happiness and peace. The Father has come to make your treasure-stores of purity, happiness and peace completely full. In the iron age, there is bankruptcy of purity, happiness and peace because Ravan has cursed it. Everyone continues to weep and wail in the cottage of sorrow. The Innocent Lord Shiva sits here and explains to you the secrets of the beginning, middle and end of the world, that is, He makes you children trikaldarshi. No one else knows the drama. Maya has made everyone completely senseless. This play of victory and defeat and happiness and sorrow is of Bharat. Bharat was solvent like a diamond and is now insolvent like a shell. Bharat was the land of happiness and is now the land of sorrow. Bharat was heaven and is now hell. No one except the Ocean of Knowledge can give you the knowledge of its beginning, middle and end or how it becomes hell from heaven. Your intellects have to have this faith. Those whose fortune is to open, that is, those who are to become fortunate have this faith. All are unfortunate now. To be unfortunate means to have one’s fortune spoilt. They are corrupt; the Father comes and makes them elevated. However, hardly anyone understands that Father because He doesn’t have a body. The Supreme Soul speaks. There are only pure souls in the golden age. In the iron age, all are impure. People go to Jagadamba with so many desires. They don’t know anything. Even then, the Father says: Whatever feelings people worship someone with, I give them the temporary fruit of that. A non-living idol can never give them the fruit. I alone am the One who gives them the fruit and temporary happiness. I am also the Bestower of unlimited happiness. I am not a bestower of sorrow. I am the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. You have come to claim your inheritance of heaven in the land of happiness. There are a lot of precautions to be observed in this. The Father explains: In the beginning there is happiness. Then, in the middle, the path of devotion begins and so happiness ends and sorrow begins. At that time, when devotion begins the deities fall onto the path of sin, the vicious path. So there is happiness in the beginning, whereas sorrow begins in the middle. At the end, there is great sorrow. The Father says: I am the Bestower of Peace and Happiness to All. I am making you ready to go to the land of happiness. All the rest will settle their accounts and go to the land of peace. There will be a lot of punishment experienced; the T ribunal will sit. Baba has explained that people used to sacrifice themselves at Kashi. They speak of Kashi Kalvat (the sacrifice at Kashi). There is a temple to Shiva at Kashi. On the path of devotion, they stay there in remembrance of Shiv Baba. They say: This is it! I am now going to come to You. They cry a great deal and sacrifice themselves to Shiva and so they receive temporary happiness for that. Here, you sacrifice yourselves, that is, you belong to Shiv Baba while alive in order to claim your inheritance for 21 births. There is no question of suicide. While alive you say: Baba, I am Yours. Those people sacrifice themselves to Shiva. They believe that, by dying, they will belong to Shiv Baba, but they don’t belong to Him. Here, you belong to the Father while alive. You go into His lap and you therefore have to follow the Father’s directions. Only then can you become elevated deities. You are now becoming that. You have been making this effort for cycle after cycle. This is not anything new. The world becomes old. In that case, a new one is surely needed. Bharat was the new land of happiness and it is now the old land of sorrow. People have such stone intellects that they don’t understand that there is just one world, that it simply becomes new and old. Maya has locked their intellects and made them completely degraded. This is why they continue to worship the deities without knowing their occupation. That is called blind faith. They spend millions of rupees worshipping the goddesses. They worship them, feed them and then sink them in the sea. Therefore, that is the worship of dolls, is it not? What is the benefit of that? They celebrate with a lot of pomp and joy and spend so much money. Then, after a week, they sink them in the sea just as people are buried in a cemetery. God speaks: this is the rule of the devilish community and I make you into the deity community. It is very difficult to make someone have faith because Baba does not have a physical form. The Aga Khan had a physical form and he had so many followers. They used to weigh him in gold. The Father explains: That is called blind faith. At this time, no one has permanent happiness. There are many who are very bad. Important people commit big sins. The Father says: I am the Lord of the Poor. The poor don’t commit as much sin. At this time, all are sinful souls. You have now found the unlimited Father and yet you repeatedly forget Him. Ah! but you are a soul, are you not? No one has ever seen a soul. They understand that it resides in the centre of the forehead like a star. When the soul leaves the body, the body is finished. A soul is like a star , and so surely, the Father of myself, a soul, would also be like me. However, He is the Ocean of Happiness and the Ocean of Peace. How would the Incorporeal give the inheritance? He would surely come and sit in the centre of the forehead. The soul now imbibes knowledge and goes from degradation into salvation. Those who do something will receive the reward of it. If you don’t remember the Father, you won’t receive your inheritance. If you don’t make others the same as you, worthy of claiming their inheritance, it is then understood that you will claim a status worth a few pennies. The Father sits here and explains who the elevated ones are and who the corrupt ones are. The elevated deities have been and gone from Bharat. People sing of Heavenly God, the Father, but they don’t know when Heavenly God, the Father, comes and makes the world into heaven. You know this, but it is just that you don’t make full effort. This also has to happen according to the drama. However much each of you has in your fortune, that is how much you will receive. If any of you were to ask Baba, Baba would instantly tell you what status you would claim if you were to leave your body with your current behaviour. However, no one has the courage to ask. Those who make good effort can understand to what extent they become sticks for the blind. The Father also understands when someone is to claim a good status or that a particular child is not doing any service and so will become a maid or servant there. There are maids and servants who sweep the floors, those who sustain Krishna and those who decorate the empress. Those are pure kings whereas these are impure kings. So, the impure kings make a temple to the pure kings and worship them. They don’t know anything. The Birla temple is so big. They make so many temples to Lakshmi and Narayan, but they don’t know who Lakshmi and Narayan are. So, how much benefit would they receive? Temporary happiness. They go to Jagadamba, but they don’t know that this Jagadamba is the one who then becomes Lakshmi. At this time, your desires of the world are being fulfilled through Jagadamba. You are claiming the kingdom of the world. Jagadamba is teaching you now. She is the same one who then becomes Lakshmi. She is the one to whom people continue to beg every year. There is so much difference! They beg Lakshmi for wealth every year. They do not say in front of Lakshmi: I want a child. Or: Remove my illness. No, they only ask Lakshmi for wealth. The very name is ‘worship of Lakshmi’. They ask Jagadamba for a lot of things. She is the one who fulfils all their desires. You are now receiving the sovereignty of heaven through Jagadamba. From Lakshmi they receive some fruit of wealth every year, and this is why they worship her every year. They believe that she is the one who gives them wealth. They then continue to commit sin with that wealth. They even commit sin to attain wealth. You children are now receiving the imperishable jewels of knowledge with which you will become prosperous. You receive the kingdom of heaven through Jagadamba. There are no sins committed there. These matters have to be understood. Some understand this very well whereas others don’t understand it at all because it is not in their fortune. If you don’t follow shrimat, you won’t become elevated and your status is destroyed. It has to be understood that the whole kingdom is being established. God, the Father , is establishing the heavenly kingdom and then Bharat will become heaven. This is called the benevolent age. At the most, this age is 100 years long. All the other ages are 1250 years long. In Ajmer, there is a model of Paradise. They show what heaven is like. Heaven would definitely be here, would it not? If someone hears even a little, he will go to heaven. However, if they don’t study, they are like uneducated ones. Subjects too are numberwise. However, there, all the poor and the wealthy have happiness. Here, there is nothing but sorrow. In the golden age, Bharat is the land of happiness whereas in the iron age, it is the land of sorrow. The history and geography of the world have to repeatGod is only One. There is also just one world. In the new world, Bharat is first. Bharat has now become old and it has to become new again. No one else knows how the world history and geography have to repeat. Not everyone is the same. There will be different levels of status there too. There are no policemen there because there is no fear there. Here, there is fear and this is why they have policeman etc. They have divided Bharat into pieces. There are no partitions in the golden age. Only the one kingdom of Lakshmi and Narayan continues. There are no sins committed there. The Father says: Children, claim your inheritance of constant happiness from Me by following My directions. Only the one Father shows you the path to salvation. You are the Shiv Shakti Army that makes Bharat into heaven. You use your body, mind and wealth, everything, for this service. That Bapuji chased away the Christians. That was also fixed in the drama. However, there hasn’t been any happiness through that; instead there is greater sorrow. There is no food, and they continue to tell lies: “You will receive this and this will happen”. Only from the Father are you going to receive something. Everything else is going to end. They ask for there to be birth control. They continue to beat their heads for that. Nothing is going to happen. If a small war breaks out, there will be famine. There will be a lot of violence between one another. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. You have to sacrifice yourself to the Father while alive, that is, you have to belong to the Father and follow the shrimat of the Father alone. Do the service of making others the same as yourself.
  2. Donate the imperishable jewels of knowledge and become like Jagadamba, one who fulfils everyone’s desires.
Blessing: May you be trikaldarshi and become an unshakeable and immovable Mahavir by considering there to be benefit in everything.
Do not look at any situation with the vision of one aspect of time, but look at it while being trikaldarshi. Instead of asking “Why?” or “What?” consider there to be benefit in whatever happens. Continue to do as Baba says and it is then up to Baba and His work. Move along as Baba makes you move for benefit is merged in that. By having this faith you will never fluctuate. Let there be no waste thoughts in your dreams or in your mind and you will then be called an unshakeable and immovable Mahavir.
Slogan: A tapaswi is one who becomes detached and loving in a second according to the signals fromshrimat.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 26 OCTOBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 26 October 2018

To Read Murli 25 October 2018 :- Click Here
26-10-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – श्रीमत पर चलो तो तुम्हारे सब भण्डारे भरपूर हो जायेंगे, तुम्हारी तकदीर ऊंची बन जायेगी”
प्रश्नः- इस कलियुग में किस चीज़ का देवाला निकल चुका है? देवाला निकलने से इसकी गति क्या हुई है?
उत्तर:- कलियुग में पवित्रता, सुख और शान्ति का देवाला निकल चुका है इसलिए भारत सुखधाम से दु:खधाम, हीरे से कौड़ी जैसा बन गया है। यह खेल सारा भारत पर है। खेल के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान अभी बाप तुम्हें सुना रहे हैं। तकदीरवान, सौभाग्यशाली बच्चे ही इस ज्ञान को अच्छी रीति समझ सकते हैं।
गीत:- भोलेनाथ से निराला ……… 

ओम् शान्ति। भगवानुवाच। कौन-सा भगवान्? भोलानाथ शिव भगवानुवाच। बाप भी समझाते हैं, टीचर का भी काम है समझाना। सतगुरू का भी काम है समझाना। शिवबाबा को ही सत बाबा, भोलानाथ कहा जाता है। शंकर को भोला नहीं कहेंगे। उनके लिए तो कहते हैं आंख खोली तो सृष्टि को भस्म कर दिया। भोला भण्डारी शिव को कहते हैं अर्थात् भण्डारा भरपूर करने वाला। कौनसा भण्डारा? धन-दौलत, सुख-शान्ति का। बाप आये ही हैं पवित्रता-सुख-शान्ति का भण्डारा भरपूर करने। कलियुग में पवित्रता-सुख-शान्ति का देवाला है क्योंकि रावण ने श्राप दिया हुआ है। सब शोक वाटिका में रोते पीटते रहते हैं। भोलानाथ शिव बैठ सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का राज़ समझाते हैं अर्थात् तुम बच्चों को त्रिकालदर्शी बनाते हैं। ड्रामा को तो और कोई जानते नहीं। माया ने बिल्कुल ही बेसमझ बना दिया है। भारत का ही यह हार-जीत, दु:ख-सुख का नाटक है। भारत हीरे जैसा सालवेन्ट था, अब कौड़ी जैसा इनसालवेन्ट है। भारत सुखधाम था, अब दु:खधाम है। भारत हेविन था, अब हेल है। हेल से फिर हेविन कैसे बनता है, उसके आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान सिवाए ज्ञान सागर के कोई समझा न सके। यह भी बुद्धि में निश्चय होना चाहिए। निश्चय उनको होता है जिनकी तकदीर खुलनी होती है, जो सौभाग्यशाली बनने वाले हैं। दुर्भाग्यशाली तो सब हैं ही। दुर्भाग्यशाली माना तकदीर बिगड़ी हुई है। भ्रष्टाचारी हैं। बाप आकर श्रेष्ठाचारी बनाते हैं। परन्तु उस बाप को भी कोई मुश्किल समझ सकते हैं क्योंकि उनको देह नहीं है। सुप्रीम आत्मा बात करती है। पावन आत्मायें होती ही हैं सतयुग में। कलियुग में सब पतित हैं। अनेक मनोकामनायें लेकर जगदम्बा के पास जाते हैं, जानते कुछ भी नहीं फिर भी बाप कहते हैं जो-जो, जिस-जिस भावना से पूजा करते हैं तो मैं उनको अल्पकाल क्षणभंगुर लिए फल दे देता हूँ। जड़ मूर्ति कभी उसका फल नहीं दे सकती। फल देने वाला, अल्पकाल सुख देने वाला मैं ही हूँ और बेहद के सुख का दाता भी मैं ही हूँ। मैं दु:खदाता नहीं हूँ। मैं तो दु:ख हर्ता सुख कर्ता हूँ। तुम आये हो सुखधाम में स्वर्ग का वर्सा पाने। इसमें परहेज बहुत है। बाप समझाते हैं आदि में है सुख, फिर मध्य में भक्ति मार्ग शुरू होता है तो सुख पूरा हो दु:ख शुरू होता है। फिर देवी-देवता वाम मार्ग, विकारी मार्ग में गिर पड़ते हैं। जहाँ से ही फिर भक्ति शुरू होती है। तो आदि में सुख, मध्य में दु:ख शुरू होता है। अन्त में तो महान् दु:ख है। बाप कहते हैं अब सर्व का शान्ति, सुख दाता मैं हूँ। तुमको सुखधाम में चलने लिए तैयार कर रहा हूँ। बाकी सब हिसाब-किताब चुक्तू कर शान्तिधाम में चले जायेंगे। सजायें तो बहुत खायेंगे। ट्रिब्युनल बैठती है। बाबा ने समझाया है काशी में भी बलि चढ़ते थे। काशी कलवट कहते हैं ना। अब काशी में है शिव का मन्दिर। वहाँ भक्ति मार्ग में शिवबाबा की याद में रहते हैं। कहते हैं – बस, अब आपके पास आऊं। बहुत रो-रो कर शिव पर बलि चढ़ते हैं तो अल्पकाल क्षण भंगुर थोड़ा फल मिल जाता है। यहाँ तुम बलि चढ़ते हो अर्थात् जीते जी शिवबाबा का बनते हो 21 जन्म का वर्सा पाने के लिए। जीवघात की बात नहीं। जीते जी बाबा मैं आपका हूँ। वह तो शिव पर बलि चढ़ते हैं, मर जाते हैं, समझते हैं हम शिवबाबा का बन जाऊंगा। परन्तु बनते नहीं हैं। यहाँ तो जीते जी बाप का बने, गोद में आये फिर बाप की मत पर चलना पड़े, तब ही श्रेष्ठ देवता बन सकते हैं। तुम अब बन रहे हो। कल्प-कल्प तुम यह पुरुषार्थ करते आये हो। यह कोई नई बात नहीं।

दुनिया पुरानी होती है। फिर जरूर नई चाहिए ना। भारत नया सुखधाम था, अब पुराना दु:खधाम है। मनुष्य इतने पत्थरबुद्धि हैं जो यह नहीं समझते कि सृष्टि एक ही है। वह सिर्फ नई और पुरानी होती है। माया ने बुद्धि को ताला लगाए बिल्कुल ही तुच्छ बुद्धि बना दिया है, इसलिए आक्यूपेशन जानने बिगर ही देवताओं की पूजा करते रहते हैं, इसको ब्लाइन्डफेथ कहा जाता है। देवियों की पूजा में करोड़ों रूपया खर्च करते हैं, उनकी पूजा कर खिला-पिलाकर फिर समुद्र में डुबो देते हैं तो यह गुड़ियों की पूजा हुई ना। इससे क्या फायदा? कितना धूमधाम से मनाते हैं, खर्चा करते हैं, हफ्ता बाद जैसे शमशान में दफन करते हैं वैसे यह फिर सागर में डुबो देते हैं। भगवानुवाच – यह आसुरी सम्प्रदाय का राज्य है, मैं तुमको दैवी सम्प्रदाय बनाता हूँ। कोई को निश्चय बैठना बड़ा कठिन है क्योंकि साकार में नहीं देखते। आगाखां साकार में था तो उनके कितने फालोअर्स थे, उनको सोने-हीरों में वज़न करते थे। इतनी महिमा कोई बादशाह की भी नहीं होती। तो बाप समझाते हैं – इसको अन्धश्रधा कहा जाता है क्योंकि स्थाई सुख तो नहीं है ना। बहुत गन्दे भी होते हैं, बड़े-बड़े आदमियों से बड़े पाप होते हैं। बाप कहते हैं मैं गरीब निवाज हूँ। गरीबों से इतने पाप नहीं होंगे। इस समय सब पाप आत्मायें है। अभी तुमको बेहद का बाप मिला है फिर भी घड़ी-घड़ी उनको भूल जाते हो। अरे, तुम आत्मा हो ना! आत्मा को भी कभी कोई ने देखा नहीं है। समझते हैं स्टॉर मिसल भ्रकुटी के बीच रहती है। जब आत्मा निकल जाती है तो शरीर खलास हो जाता है। आत्मा स्टॉर मिसल है तो जरूर मुझ आत्मा का बाप भी हमारे जैसा होगा। परन्तु वह सुख का सागर, शान्ति का सागर है। निराकार वर्सा कैसे देंगे? जरूर भ्रकुटी के बीच आकर बैठेंगे। आत्मा अब ज्ञान धारण कर दुर्गति से सद्गति में जाती है। अब जो करेगा सो पायेगा। बाप को याद नहीं करते तो वर्सा भी नहीं पायेंगे। कोई को आप समान वर्सा पाने लायक नहीं बनाते हैं तो समझते हैं पाई-पैसे का पद पा लेंगे। श्रेष्ठाचारी और भ्रष्टाचारी किसको कहा जाता है, यह बाप बैठ समझाते हैं। भारत में ही श्रेष्ठाचारी देवतायें होकर गये हैं। गाते भी हैं हेविनली गॉड फादर…… परन्तु जानते नहीं हैं कि हेविनली गॉड फादर कब आकर सृष्टि को हेविन बनाते हैं। तुम जानते हो, सिर्फ पूरा पुरुषार्थ नहीं करते हो, वह भी ड्रामा अनुसार होना है, जितना जिसकी तकदीर में है। बाबा से अगर कोई पूछे तो बाबा झट बता सकते हैं कि इस चलन में अगर तुम्हारा शरीर छूट जाए तो यह पद पायेंगे। परन्तु पूछने की भी हिम्मत कोई नहीं रखते हैं। जो अच्छा पुरुषार्थ करते हैं वह समझ सकते हैं हम कितने अंधों की लाठी बनते हैं? बाप भी समझ जाते हैं – यह अच्छा पद पायेंगे, यह बच्चा कुछ भी सर्विस नहीं करता तो वहाँ भी दास-दासी जाकर बनेंगे। झाड़ू आदि लगाने वाले, कृष्ण की पालना करने वाले, महारानी का श्रृंगार करने वाले दास-दासियां भी होते हैं ना। वह हैं पावन राजायें, यह हैं पतित राजायें। तो पतित राजायें पावन राजाओं के मन्दिर बनाकर उन्हों की पूजा करते हैं। जानते कुछ भी नहीं।

बिरला मन्दिर कितना बड़ा है। कितने लक्ष्मी-नारायण के मन्दिर बनाते हैं, परन्तु जानते नहीं कि लक्ष्मी-नारायण कौन हैं? फिर उनको कितना फ़ायदा मिलेगा? अल्पकाल का सुख। जगत अम्बा के पास जाते हैं, यह थोड़ेही जानते कि यह जगत-अम्बा ही लक्ष्मी बनती है। इस समय तुम जगत अम्बा से विश्व की सब मनोकामनायें पूरी कर रहे हो। विश्व का राज्य ले रहे हो। जगत अम्बा तुमको पढ़ा रही है। वही फिर लक्ष्मी बनती है। जिससे फिर वर्ष-वर्ष भीख मांगते हैं। कितना फ़र्क है! लक्ष्मी से हर वर्ष पैसे की भीख मांगते हैं। लक्ष्मी को ऐसे नहीं कहेंगे हमको बच्चा चाहिए या बीमारी दूर करो। नहीं, लक्ष्मी से सिर्फ धन मांगते हैं। नाम ही है लक्ष्मी-पूजन। जगत अम्बा से तो बहुत कुछ मांगते हैं। वह सब कामनायें पूरी करने वाली है। अभी तुमको जगत अम्बा से मिलती है – स्वर्ग की बादशाही। लक्ष्मी से हर वर्ष कुछ न कुछ धन का फल मिलता है, तब तो हर वर्ष पूजा करते हैं। समझते हैं धन देने वाली है। धन से फिर पाप करते रहते। धन प्राप्ति के लिए भी पाप करते हैं।

अभी तुम बच्चों को मिलते हैं अविनाशी ज्ञान रत्न, जिससे तुम मालामाल बन जायेंगे। जगत अम्बा से स्वर्ग की राजाई मिलती है। वहाँ पाप होता नहीं। कितनी समझ की बातें हैं। कोई तो अच्छी रीति समझते हैं, कोई तो कुछ समझते नहीं हैं क्योकि तकदीर में नहीं है। श्रीमत पर नहीं चलते तो श्रेष्ठ थोड़ेही बनेंगे। फिर पद भ्रष्ट हो जाता है। सारी राजधानी स्थापन हो रही है – यह समझना है। गॉड फादर हेविनली किंगडम स्थापन कर रहे हैं फिर भारत हेविन बन जायेगा। इसको कहा जाता है कल्याणकारी युग। यह है बहुत से बहुत 100 वर्ष का युग। और सभी युग 1250 वर्ष के हैं। अजमेर में वैकुण्ठ का मॉडल है, दिखलाते हैं स्वर्ग कैसा होता है। स्वर्ग तो जरूर यहाँ ही होगा ना। थोड़ा भी सुना तो स्वर्ग में आयेंगे, परन्तु पढ़ेंगे नहीं तो जैसे भील हैं। प्रजा भी नम्बरवार होती है ना। परन्तु वहाँ गरीब, साहूकार सुख सबको रहता है। यहाँ तो दु:ख ही दु:ख है। भारत सतयुग में सुखधाम था, कलियुग में दु:खधाम है। यह वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी रिपीट होनी है। गॉड एक है। वर्ल्ड भी एक है। नई वर्ल्ड में पहले है भारत। अभी भारत पुराना है जिसको फिर नया बनना है। यह वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी ऐसे रिपीट होती रहती है और कोई इन बातों को नहीं जानते। सब तो एक जैसे नहीं होते हैं। मर्तबे तो वहाँ भी रहेंगे। वहाँ सिपाही लोग होते नहीं क्योंकि वहाँ डर होता नहीं। यहाँ तो डर है इसलिए सिपाही आदि रखते हैं। भारत में टुकड़े-टुकड़े कर दिये हैं। सतयुग में पार्टीशन होता नहीं। लक्ष्मी-नारायण का एक ही राज्य चलता है। पाप कोई होता नहीं। अब बाप कहते हैं – बच्चे, मेरे से सदा सुख का वर्सा लो, मेरी मत पर चलकर। सद्गति का मार्ग एक ही बाप दिखाते हैं। यह है शिव शक्ति सेना, जो भारत को स्वर्ग बनाती है। यह तन-मन-धन सब इस सेवा में लगाते हैं। उस बापू जी ने क्रिश्चियन को भगाया, यह भी ड्रामा में था। परन्तु उनसे कोई सुख नहीं हुआ और ही दु:ख है। अन्न है नहीं, गपोड़े मारते रहते हैं, यह मिलेगा, यह होगा……। मिलना है सिर्फ बाप से। बाकी यह तो सब ख़त्म हो जायेगा। कहते हैं बर्थ कन्ट्रोल करो, उसके लिए माथा मारते रहते हैं, होगा कुछ भी नहीं। अभी थोड़ी लड़ाई शुरू हो जाए तो फेमन पड़ जायेगा। एक-दो में मारामारी हो जायेगी। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) जीते जी बाप पर बलि चढ़ना है अर्थात् बाप का बनकर बाप की ही श्रीमत पर चलना है। आप समान बनाने की सेवा करनी है।

2) अविनाशी ज्ञान रत्नों का दान कर जगदम्बा समान सर्व की मनोकामनायें पूर्ण करने वाला बनना है।

वरदान:- हर बात में कल्याण समझकर अचल, अडोल महावीर बनने वाले त्रिकालदर्शी भव
कोई भी बात एक काल की दृष्टि से नहीं देखो, त्रिकालदर्शी होकर देखो। क्यों, क्या के बजाए सदा यही संकल्प रहे कि जो रहा है उसमें कल्याण है। जो बाबा कहे वह करते चलो, फिर बाबा जाने बाबा का काम जाने। जैसे बाबा चलाये वैसे चलो तो उसमें कल्याण भरा हुआ है। इस निश्चय से कभी डगमग नहीं होंगे। संकल्प और स्वप्न में भी व्यर्थ संकल्प न आयें तब कहेंगे अचल, अडोल महावीर।
स्लोगन:- तपस्वी वह है जो श्रीमत के इशारे प्रमाण सेकण्ड में न्यारा और प्यारा बन जाये।
Font Resize