26 august ki murli

TODAY MURLI 26 AUGUST 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 26 August 2020

26/08/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, Baba has come to make you into the kingsof flowers. Therefore, there should be no bad odour of vice.
Question: What effort should you make in order to finish all trace of the vices?
Answer: Constantly make effort to remain introverted. To be introverted means to become detached from your body in a second. You should completely forget everything of this world. Go up above and come down in a second. When you practise this, all trace of the vices will finish. In between doing everything, become introverted; it should feel like absolute dead silence. There should not be the slightest noise or movement. It should be as though this world doesn’t exist.

Om shanti. Each of you is made to sit here and is told: Become bodiless and remember the Father. Together with this, also remember the world cycle. Human beings don’t understand the cycle of 84 births. They will not understand it at all. Only those who go around the cycle of 84 will come to understand this. You simply have to remember it. This is called spinning the discus of self-realisation through which all devilish thoughts are finished. It isn’t that there is a devil sitting here whose throat will be cut. People don’t even understand the meaning of the discus of self-realisation. You children receive this knowledge here. While living at home, you must remain as pure as a lotus. God speaks: By becoming pure in this one birth, you become the masters of the future pure world for 21 births. The golden age is called the Temple of Shiva and the iron age is called the brothel. This world changes. It is a matter of Bharat alone. You shouldn’t be concerned about what others say. Some ask: What happens to the animals? What happens to other religions? Tell them: First of all, understand about yourself, then ask about others. Because the people of Bharat have forgotten their own religion, they have become unhappy. It is in Bharat that they call out: You are the Mother and Father. Abroad, they don’t use the term “Mother and Father” as much; they simply speak of God, the Father. There truly was plenty of happiness in Bharat. Only you know that Bharat used to be heaven. The Father comes and changes thorns into flowers. The Father is also called the Master of the Garden. People call out to Him, “Come and change the thorns into flowers!” The Father creates the garden of flowers. Maya then makes it into a forest of thorns. People say, “God, Your Maya is very powerful!” They neither know God nor Maya. Someone said those words and others then continued to repeat them. They have no meaning. You children understand that this drama is a play about the kingdom of Rama and the kingdom of Ravan. In Rama’s kingdom there is happiness, and in Ravan’s kingdom there is sorrow. This applies here. This is not God’s Maya. Maya refers to the five vices. They are also called Ravan. However, human beings have to take rebirth and come into the cycle of 84 births: from being satoguni you have to become tamopradhan. At this time, everyone is born through vice and this is why they are called vicious. The very names are the vicious world and the viceless world. It is a common thing to understand how the new world becomes old. At first, in the new world, there was heaven. You children know that the Supreme Father, the Supreme Soul, establishes heaven and that there is plenty of happiness there. No one understands how there is day through knowledge and night through devotion. The day of Brahma and the mouth-born Brahmins, his creation, are mentioned. Then, there is the night of those same Brahmins. People don’t understand that day and night take place here. If it is the night of Prajapita Brahma, it must also definitely be the night of Brahmins, the mouth-born creation. For half the cycle, it is the day and for the other half, it is the night. The Father has now come to make the world viceless. The Father says: Children, lust is the greatest enemy, you have to conquer it. You have to become completely viceless and pure. By becoming impure you have committed many sins. This is the world of sinful souls. Sins are definitely committed through bodies, for it is then that souls become sinful. No sins are committed in the pure world of deities. Here, you are becoming elevated and charitable souls by following shrimat. There is the rosary of Shri Shri 108. At thtop,there is the tassel; it refers to Shiva. That is the incorporeal flower. Then, in the corporeal form, there are the male and femalewhose rosary is created. They are made worthy by Shiv Baba of being worshipped and remembered. You children know that Baba has come to make you into beads of the rosary of victory. We are conquering the world with the power of remembrance. It is by having this remembrance that you are absolved of your sins. Then you become satopradhan. Those people say, without understanding, “God, Your Maya is so powerful!” When someone has a lot of wealth, people say that he has a lot of Maya. In fact, Maya refers to the five vices which are also called Ravan. They have then made a picture of Ravan with ten heads. Since that picture exists, an explanation of it has to be given. For instance, it is said of Angad that, even though Ravan tried to shake him, he still couldn’t shake him the slightest bit. They have just created examples, but there is nothing like that. The Father says: No matter how much Maya tries to shake you, you must remain stable. Examples have been created of Ravan, Hanuman, Angad, etc. You understand the meanings of those examples. There is also the example of the buzzing moth. The name of the buzzing moth (brahmari) and a Brahmin teacher (brahmini) sound very similar. You buzz knowledge and yoga to the dirty insects and make them pure from impure. Remember the Father and you will become satopradhan. There is also the example of the tortoise: they withdraw all their physical limbs and become introverted. The Father says to you: After you do anything, become introverted as though this world doesn’t even exist. Let all movement and sound come to an end. On the path of devotion they are extroverted. They sing songs, they do this and that; they create so much upheaval and spend so much money! They hold so many fairs! The Father says: Stop doing all of that and become so introverted that it is as though this world doesn’t exist. Each of you should examine yourself to see if you have become worthy: Do any vices trouble me? Do I remember the Father? Day and night, you should be remembering the Father who makes you into the masters of the world. I am a soul and He is my Father. Always remember internally, “I am becoming a flower of the new world.” I don’t have to become an uck flower or a poisonous flower. I have to become a very fragrant flower, a king of all flowers. There shouldn’t be any bad odour. All bad thoughts should be removed. Many storms of Maya will come to make you fall. Don’t perform any sinful actions through your physical organs. Make yourselves very strong in this way and reform yourselves. I mustn’t remember any bodily being. The Father says: Consider yourself to be a soul and remember Me and carry on acting for the livelihood of your body. You can also make timefor that. Continue to praise the Father even while you take your meals. When you eat in remembrance of Baba, the food becomes pure. When you constantly remember the Father, that remembrance will cut away your sins of many births and you will become satopradhan. You have to check yourself to see to what extent you have become real gold. For how many hours did I stay in remembrance today? Yesterday, I stayed in remembrance for three hours. Today, I stayed in remembrance for two hours. Therefore, there was a loss today. There continues to be ascent and descent. When people go on a pilgrimage, it is high in some places and low in other places. Your stage also continues to go up and down. Each of you has to look at your own account. The main thing is the pilgrimage of remembrance. Since these are the versions of God, it must definitely only be His children He teaches. How could He teach the whole world? Who can be called God? Krishna is a bodily being. It is the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, who is called God. He Himself says: I enter an ordinary body. It is also remembered that Brahma had an old body. Only an old man would have a white beard and moustache. A mature, experienced chariot is definitely required. Would God enter a young chariot? He Himself says: No one knows Me. He is the Supreme, God, the Father. He is the Supreme Soul. You were 100 percent pure. You have now become 100 percent impure. In the golden age, there was 100 percent purity. Therefore, there was also peace and prosperity. The main thing is purity. You can see how impure people bow down to the idols of the pure ones and sing their praise. They never say to the sannyasis, “You are full of all virtues and we are degraded sinners”. They say this to the idols of the deities. Baba has explained: Everyone bows down to a kumari. Then, when she marries, she indulges in sin and she has to bow down to everyone. The Father says: If you become viceless now, you become viceless for half the cycle. The kingdom of the five vices is now coming to an end. This is the land of death and that is the land of immortality. Each of you souls has now received a third eye of knowledge. Only the Father gives you this. A tilak is applied to the forehead. You souls are now being given knowledge. For what? So that you can give yourself a tilak of sovereignty. When someone is studying to become a barrister, he gives himself the tilak of a barrister. If one studies, one is given a tilak. One can’t be given it by asking for blessings. In that case, the teacher would have to have mercy for everyone and everyone would pass. You children have to give yourselves a tilak of sovereignty. By remembering the Father, you are absolved of your sins and, by spinning the discus, you become emperors, rulers of the globe. The Father says: I make you into the kings of kings. Deities become doublecrowned. Even the impure kings worship them. I make you much more elevated than the kings who worship you. Those who have donated a lot and performed a great deal of charity take their next birth to a king because of the good acts they performed. You now receive the wealth of imperishable knowledge here, which you have to imbibe and donate to others. This is your source of income. Those teachers donate those studies. Those studies are for a temporary period. When those students finish their education abroad and return home and then have heartfailure, all of that study is finished. Therefore, that is perishable, is it not? All of that effort has gone to waste. Your effort cannot be wasted like that. The more you study, the more your study will remain with you for 21 births. There is no untimely death there. You take this study with you. Just as the Father is the Benefactor, so you children too have to become benefactors and show everyone the path. Baba gives you very good advice. Just explain to everyone why there is so much praise of the one Shrimad Bhagawad Gita, the most elevated jewel of all the scriptures. Only God’s directions are elevated, but who is the One called God? There can only be one God. He is the incorporeal One, the Father of all souls. This is why it is said that all are brothers. Then, when the new world is being created through Brahma, you become brothers and sisters. At this time, you are brothers and sisters. Therefore, you have to remain pure. This is a good tactic to remain pure. Your criminal eye should completely finish. You have to be very careful that your eyes don’t sometimes become mischievous. When you see roasted chickpeas being sold in the street, you don’t want to eat some, do you? Many have such desires and they even eat them. When a Brahmin sister goes somewhere with a brother and he offers to buy her some chickpeas, she thinks that it is not a sin just to eat them once. Those who are weak will eat them without hesitation. There is an example in the scriptures about Arjuna based on this. They have made up those stories. They all apply to this time. All of you are Sitas. The Father tells you to remember the one Father so that your sins can be cut away. However, there is nothing else. You understand that Ravan is not really a person. When the vices enter them, people are said to belong to Ravan’s community. When someone performs such actions, he is told: You are like a devil! His behaviour is devilish. Vicious children would be called those who defame the name of the clan. The unlimited Father says: I make you beautiful from ugly and you then dirty your faces! You make a promise to remain pure and you then become vicious! Such ones become uglier than they were before. This is why they are referred to as those with stone intellects. You are now becoming those with divine intellects. Your stage is now ascending. As soon as you recognise the Father, you become a master of the world. There can be no question of doubt in this. The Father is Heavenly God, the Father. Therefore, He will definitely bring heaven as a gift for you children. People celebrate the birthday of Shiva. What do they do then? They observe a fast. In fact, the fast that should be observed is of the vices: you must not indulge in vice. It is by indulging in vice that you receive sorrow from the time you start through the middle to the end. Now become pure for this one birth. Destruction of the old world is just ahead. Just see how only 900,000 will remain in Bharat; there will be peace then. There will be no other religions to cause any conflict. One religion will be established and all other religions destroyed. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost, now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Imbibe the imperishable wealth of knowledge and then donate it. Give yourself a tilak of sovereignty through this study. Become a benefactor, like the Father.
  2. Observe all precautions about food and drink. Be careful that your eyes never deceive you. Reform yourself! Don’t perform any sinful act with your physical organs.
Blessing: May you be a world benefactor who gives the world the water of light with your seed stage.
The seed stage is the most powerful stage and this stage works like a lighthouse. With this stage, you become instruments to spread light in the whole world. Just as a whole tree automatically receives water through its seed, in the same way, when you remain stable in the seed stage, the world receives the water of light. However, in order to make your light reach the whole world, you need to have the powerful stage of a world benefactor. For this, become a lighthouse, not a light bulb. Be aware that you have to benefit the whole world with every thought.
Slogan: The power to adjust will enable you to pass with honours at delicate times.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 26 AUGUST 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 26 August 2020

Murli Pdf for Print : – 

26-08-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – बाबा आये हैं तुम्हें किंग ऑफ फ्लावर बनाने, इसलिए विकारों की कोई भी बदबू नहीं होनी चाहिए”
प्रश्नः- विकारों का अंश समाप्त करने के लिए कौन-सा पुरूषार्थ करना है?
उत्तर:- निरन्तर अन्तर्मुखी रहने का पुरूषार्थ करो। अन्तर्मुख अर्थात् सेकण्ड में शरीर से डिटैच। इस दुनिया की सुध-बुध बिल्कुल भूल जाए। एक सेकण्ड में ऊपर जाना और आना। इस अभ्यास से विकारों का अंश समाप्त हो जायेगा। कर्म करते-करते बीच-बीच में अन्तर्मुखी हो जाओ, ऐसा लगे जैसे बिल्कुल सन्नाटा है। कोई भी चुरपुर नहीं। यह सृष्टि तो जैसे है ही नहीं।

ओम् शान्ति। यहाँ हर एक को बिठाया जाता है कि अशरीरी हो बाप की याद में बैठो और साथ-साथ यह जो सृष्टि चक्र है उनको भी याद करो। मनुष्य 84 के चक्र को समझते नहीं हैं। समझेंगे ही नहीं। जो 84 का चक्र लगाते हैं वही समझने आयेंगे। तुमको यही याद करना चाहिए, इनको स्वदर्शन चक्र कहा जाता है, जिससे आसुरी ख्यालात खत्म हो जायेंगे। ऐसे नहीं कि कोई असुर बैठे हैं जिनका गला कट जायेगा। मनुष्य स्वदर्शन चक्र का भी अर्थ नहीं समझते हैं। यह ज्ञान तुम बच्चों को यहाँ मिलता है। कमल फूल समान गृहस्थ व्यवहार में रह पवित्र बनो। भगवानुवाच है ना। यह एक जन्म पवित्र बनने से भविष्य 21 जन्म तुम पवित्र दुनिया का मालिक बनेंगे। सतयुग को कहा जाता है शिवालय। कलियुग है वेश्यालय। यह दुनिया बदलती है। भारत की ही बात है। औरों की बात में जाना ही नहीं चाहिए। बोले जानवरों का क्या होगा? और धर्मों का क्या होगा? बोलो, पहले अपना तो समझो, पीछे औरों की बात। भारतवासी ही अपने धर्म को भूल दु:खी हुए हैं। भारत में ही पुकारते हैं तुम मात-पिता……. विलायत में मात-पिता अक्षर नहीं कहते। वह सिर्फ गॉड फादर कहते हैं। बरोबर भारत में ही सुख घनेरे थे, भारत स्वर्ग था – यह भी तुम जानते हो। बाप आकर कांटों को फूल बनाते हैं। बाप को बागवान कहते हैं। बुलाते हैं – आकर कांटों को फूल बनाओ। बाप फूलों का बगीचा बनाते हैं। माया फिर कांटों का जंगल बनाती है। मनुष्य तो कह देते हैं – ईश्वर तेरी माया बड़ी प्रबल है। न ईश्वर को, न माया को समझते हैं। कोई ने अक्षर कहा बस रिपीट करते रहते हैं। अर्थ कुछ नहीं। तुम बच्चे समझते हो यह ड्रामा का खेल है – रामराज्य का और रावण राज्य का। राम राज्य में सुख, रावण राज्य में दु:ख है। यहाँ की ही बात है। यह कोई प्रभू की माया नहीं है। माया कहा जाता है 5 विकारों को, जिसको रावण कहते हैं। बाकी मनुष्य तो पुनर्जन्म ले 84 के चक्र में आते हैं। सतोगुणी से तमोप्रधान बनना है। इस समय सब विकार से पैदा होते हैं – इसलिए विकारी कहा जाता है। नाम भी है विशश दुनिया फिर वाइसलेस दुनिया अर्थात् पुरानी दुनिया से नई कैसे बनती है, यह तो समझने की कॉमन बात है। न्यु वर्ल्ड में पहले हेविन था। बच्चे जानते हैं स्वर्ग की स्थापना करने वाला परमपिता परमात्मा है, उसमें सुख घनेरे हुए हैं। ज्ञान से दिन, भक्ति से रात कैसे होती है – यह भी कोई समझते नहीं हैं। कहेंगे ब्रह्मा तथा ब्रह्मा मुख वंशावली ब्राह्मणों का दिन फिर उन्हीं ब्राह्मणों की रात। दिन और रात यहाँ होता है, यह कोई नहीं समझते। प्रजापिता ब्रह्मा की रात, तो जरूर उनके ब्रह्मा मुख वंशावली ब्राह्मणों की भी रात होगी। आधाकल्प दिन, आधाकल्प रात।

अब बाप आये हैं निर्विकारी दुनिया बनाने। बाप कहते हैं – बच्चे, काम महाशत्रु है, उन पर जीत पानी है। सम्पूर्ण निर्विकारी पवित्र बनना है। अपवित्र होने से तुमने पाप बहुत किये हैं। यह है ही पाप आत्माओं की दुनिया। पाप जरूर शरीर के साथ करेंगे, तब पाप आत्मा बनेंगे। देवताओं की पवित्र दुनिया में पाप होता नहीं। यहाँ तुम श्रीमत से श्रेष्ठ पुण्य आत्मा बन रहे हो। श्री श्री 108 की माला है। ऊपर में है फूल, उनको कहेंगे शिव। वह है निराकारी फूल। फिर साकार में मेल-फीमेल हैं, उनकी माला बनी हुई है। शिवबाबा द्वारा यह पूजन सिमरण लायक बनते हैं। तुम बच्चे जानते हो – बाबा हमको विजय माला का दाना बनाते हैं। हम विश्व पर विजय पा रहे हैं याद के बल से, याद से ही विकर्म विनाश होंगे। फिर तुम सतोप्रधान बन जायेंगे। वो लोग तो बिगर समझ कह देते हैं प्रभू तेरी माया प्रबल है। किसके पास धन होगा कहेंगे इनके पास माया बहुत है। वास्तव में माया 5 विकारों को कहा जाता है, जिसको रावण भी कहा जाता है। उन्होंने फिर रावण का चित्र बना दिया है 10 शीश वाला। अब चित्र है तो समझाया जाता है। जैसे अंगद के लिए भी दिखाते हैं, उनको रावण ने हिलाया परन्तु हिला न सका। दृष्टान्त बना दिये हैं। बाकी कोई चीज़ है नहीं। बाप कहते हैं माया तुमको कितना भी हिलाये परन्तु तुम स्थिर रहो। रावण, हनूमान, अंगद आदि यह सब दृष्टान्त बना दिये हैं, जिनका अर्थ तुम बच्चे जानते हो। भ्रमरी का भी दृष्टान्त है। भ्रमरी और ब्राह्मणी राशि मिलती है। तुम विष्टा के कीड़ों को ज्ञान-योग की भूँ-भूँ कर पतित से पावन बनाते हो। बाप को याद करो तो सतोप्रधान बन जायेंगे। कछुए का भी दृष्टान्त है। इन्द्रियों को समेटकर अन्तर्मुख हो बैठ जाते हैं। तुमको भी बाप कहते हैं भल कर्म करो फिर अन्तर्मुख हो जाओ। जैसेकि यह सृष्टि है नहीं। चुर-पुर बन्द हो जाती है। भक्ति मार्ग में बाहरमुखी बन पड़ते हैं। गीत गाना, यह करना, कितना हंगामा, कितना खर्चा होता है। कितने मेले लगते हैं। बाप कहते हैं यह सब छोड़ अन्तर्मुख हो जाओ। जैसेकि यह सृष्टि है नहीं। अपने को देखो हम लायक बने हैं? कोई विकार तो नहीं सताता है? हम बाप को याद करते हैं? बाप जो विश्व का मालिक बनाते हैं, ऐसे बाप को दिन-रात याद करना चाहिए। हम आत्मा हैं, हमारा वह बाप है। अन्दर में यह चलता रहे – हम अब नई दुनिया के फूल बन रहे हैं। अक का वा टांगर का फूल नहीं बनना है। हमको तो एकदम किंग ऑफ फ्लावर बिल्कुल खुशबूदार बनना है। कोई बदबू न रहे। बुरे ख्यालात निकल जाने चाहिए। माया के तूफान गिराने के लिए बहुत आयेंगे। कर्मेन्द्रियों से कोई विकर्म नहीं करना है। ऐसे-ऐसे अपने को पक्का करना है। अपने को सुधारना है। कोई भी देहधारी को मुझे याद नहीं करना है। बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझ मुझे याद करो, शरीर निर्वाह अर्थ कर्म भी भल करो। उनसे भी टाइम निकाल सकते हो। भोजन खाने समय भी बाप की महिमा करते रहो। बाबा को याद कर खाने से भोजन भी पवित्र हो जाता है। जब बाप को निरन्तर याद करेंगे तब याद से ही बहुत जन्मों के पाप कटेंगे और तुम सतोप्रधान बनेंगे। देखना है कितना सच्चा सोना बना हूँ? आज कितना घण्टा याद में रहा? कल 3 घण्टा याद में रहा, आज 2 घण्टा रहा – यह तो आज घाटा हो गया। उतरना और चढ़ना होता रहेगा। यात्रा पर जाते हैं तो कहाँ ऊंचे, कहाँ नीचे होते हैं। तुम्हारी अवस्था भी नीचे-ऊपर होती रहेगी। अपना खाता देखना है। मुख्य है याद की यात्रा।

भगवानुवाच है तो जरूर बच्चों को ही पढ़ायेंगे। सारी दुनिया को कैसे पढ़ायेंगे। अब भगवान किसको कहा जाए? कृष्ण तो शरीरधारी है। भगवान तो निराकार परमपिता परमात्मा को कहा जाता है। खुद कहते हैं मैं साधारण तन में प्रवेश करता हूँ। ब्रह्मा का भी बुढ़ा तन गाया हुआ है। सफेद दाढ़ी मूँछ तो बुढ़े की होती है ना। चाहिए भी जरूर अनुभवी रथ। छोटे रथ में थोड़ेही प्रवेश करेंगे। खुद ही कहते हैं मुझे कोई जानते नहीं। वह है सुप्रीम गॉड फादर अथवा सुप्रीम सोल। तुम भी 100 परसेन्ट पवित्र थे। अभी 100 परसेन्ट अपवित्र बने हो। सतयुग में 100 परसेन्ट प्योरिटी थी तो पीस एण्ड प्रासपर्टी भी थी। मुख्य है प्योरिटी। देखते भी हो प्योरिटी वालों को इमप्योर माथा टेकते हैं, उनकी महिमा गाते हैं। संन्यासियों के आगे ऐसा कभी नहीं कहेंगे कि आप सर्वगुण सम्पन्न…… हम पापी नींच हैं। देवताओं के आगे ऐसे कहते हैं। बाबा ने समझाया है – कुमारी को सब माथा टेकते हैं फिर शादी करती है तो सबके आगे माथा टेकती है क्योंकि विकारी बनती है ना। अभी बाप कहते हैं तुम निर्विकारी बनेंगे तो आधाकल्प निर्विकारी हो रहेंगे। अभी 5 विकारों का राज्य ही खत्म होता है। यह है मृत्युलोक, वह है अमरलोक। अभी तुम आत्माओं को ज्ञान का तीसरा नेत्र मिलता है। बाप ही देते हैं। तिलक भी मस्तक पर देते हैं। अभी आत्मा को ज्ञान मिल रहा है, किसके लिए? तुम अपने को आपेही राजतिलक दो। जैसे बैरिस्टरी पढ़ते हैं तो पढ़कर अपने को आपेही बैरिस्टरी का तिलक देते हैं। पढ़ेंगे तो तिलक मिलेगा। आशीर्वाद से थोड़ेही मिलेगा। फिर तो सबके ऊपर टीचर कृपा करे, सब पास हो जाएं। बच्चों को अपने को आपेही राजतिलक देना है। बाप को याद करेंगे तो विकर्म विनाश होंगे और चक्र को याद करने से चक्रवर्ती महाराजा बन जायेंगे। बाप कहते हैं तुमको राजाओं का राजा बनाता हूँ। देवी-देवतायें डबल सिरताज बनते हैं। पतित राजायें भी उन्हों की पूजा करते हैं। तुमको पुजारी राजाओं से भी ऊंच बनाते हैं। जो बहुत दान-पुण्य करते हैं तो राजाओं के पास जन्म लेते हैं क्योंकि कर्म अच्छे किये हैं। अभी यहाँ तुमको मिला है अविनाशी ज्ञान धन, वह धारण कर फिर दान करना है। यह सोर्स ऑफ इनकम है। टीचर भी पढ़ाई का दान करते हैं। वह पढ़ाई है अल्पकाल के लिए। विलायत से पढ़कर आते हैं, आने से ही हार्टफेल हो जाते हैं तो पढ़ाई खत्म। विनाशी हो गई ना। मेहनत सारी मुफ्त में गई। तुम्हारी मेहनत ऐसे नहीं जा सकती। तुम जितना अच्छा पढ़ेंगे उतना 21 जन्म तुम्हारी पढ़ाई कायम रहेगी। वहाँ अकाले मृत्यु होती ही नहीं। यह पढ़ाई साथ ले जायेंगे।

अब जैसे बाप कल्याणकारी है वैसे तुम बच्चों को भी कल्याणकारी बनना है। सबको रास्ता बताना है। बाबा तो राय बहुत अच्छी देते हैं। एक ही बात समझाओ कि सर्वश्रेष्ठ शिरोमणी श्रीमद् भगवत गीता की इतनी महिमा क्यों है? भगवान की ही श्रेष्ठ मत है। अब भगवान किसको कहा जाए? भगवान तो एक ही होता है। वह है निराकार, सब आत्माओं का बाप, इसलिए आपस में भाई-भाई कहते हैं फिर जब ब्रह्मा द्वारा नई सृष्टि रचते हैं तो बहन-भाई हो जाते हैं। इस समय तुम भाई-बहन हो तो पवित्र रहना पड़े। यह है युक्ति। क्रिमिनल आई एकदम निकल जाए। सम्भाल रखनी है, हमारी आंखें कहाँ मतवाली तो नहीं बनी? बजार में चने देख दिल तो नहीं हुई? ऐसे दिल बहुतों की होती है, फिर खा भी लेते हैं। ब्राह्मणी है, किसी भाई के साथ जाती है वह कहते हैं चना खायेंगी, एक बार खाने से पाप थोड़ेही लग जायेगा! जो कच्चे होते हैं वह झट खा लेते हैं। इस पर शास्त्रों में भी अर्जुन का दृष्टान्त हैं। यह कहानियाँ बैठ बनाई हैं। बाकी हैं सब इस समय की बातें।

तुम सब सीतायें हो। तुमको बाप कहते हैं एक बाप को याद करो तो पाप कट जायेंगे। बाकी और कोई बातें हैं नहीं। अभी तुम समझते हो रावण कोई ऐसा मनुष्य नहीं है। यह तो विकारों की प्रवेशता हो जाती है तो रावण सम्प्रदाय कहा जाता है। जैसे कोई-कोई ऐसा काम करते हैं तो कहते हैं – तुम तो असुर हो। चलन आसुरी है। विकारी बच्चे को कहेंगे तुम कुल कलंकित बनते हो। यह फिर बेहद का बाप कहते हैं तुमको हम काले से गोरा बनाते हैं फिर काला मुँह करते हो। प्रतिज्ञा कर फिर विकारी बन पड़ते हो। काले से भी काला बन जाते हैं, इसलिए पत्थरबुद्धि कहा जाता है। फिर अब तुम पारसबुद्धि बनते हो। तुम्हारी चढ़ती कला होती है। बाप को पहचाना और विश्व का मालिक बनें। संशय की बात हो नहीं सकती। बाप है हेविनली गॉड फादर। तो जरूर हेविन सौगात में लायेंगे ना, बच्चों के लिए। शिव जयन्ती भी मनाते हैं – क्या करते होंगे? व्रत आदि रखते होंगे। वास्तव में व्रत रखना चाहिए विकारों का। विकार में नहीं जाना है। इनसे ही तुमने आदि-मध्य-अन्त दु:ख पाया है। अब यह एक जन्म पवित्र बनो। पुरानी दुनिया का विनाश सामने खड़ा है। तुम देखना भारत में 9 लाख जाकर रहेंगे, फिर शान्ति हो जायेगी। और धर्म ही नहीं रहेंगे जो ताली बजे। एक धर्म की स्थापना बाकी अनेक धर्म विनाश हो जायेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अविनाशी ज्ञान धन स्वयं में धारण कर फिर दान करना है। पढ़ाई से अपने आपको स्वयं ही राज तिलक देना है। जैसे बाप कल्याणकारी है वैसे कल्याणकारी बनना है।

2) खाने-पीने की पूरी-पूरी परहेज रखनी है। कभी भी आंखें धोखा न दें – यह सम्भाल करनी है। अपने को सुधारना है। कर्मेन्द्रियों से कोई भी विकर्म नहीं करना है।

वरदान:- बीजरूप स्थिति द्वारा सारे विश्व को लाइट का पानी देने वाले विश्व कल्याणकारी भव
बीजरूप स्टेज सबसे पावरफुल स्टेज है यही स्टेज लाइट हाउस का कार्य करती है, इससे सारे विश्व में लाइट फैलाने के निमित्त बनते हो। जैसे बीज द्वारा स्वत: ही सारे वृक्ष को पानी मिल जाता है ऐसे जब बीजरूप स्टेज पर स्थित रहते हो तो विश्व को लाइट का पानी मिलता है। लेकिन सारे विश्व तक अपनी लाइट फैलाने के लिए विश्व कल्याणकारी की पावरफुल स्टेज चाहिए। इसके लिए लाइट हाउस बनो न कि बल्ब। हर संकल्प में स्मृति रहे कि सारे विश्व का कल्याण हो।
स्लोगन:- एडॅजेस्ट होने की शक्ति नाजुक समय पर पास विद आनॅर बना देगी।

TODAY MURLI 26 AUGUST 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 26 August 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 25 August 2019:- Click Here

26/08/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, all your desires are now being fulfilled and your stomachs are becoming full. The Father has come to make you souls fully satisfied.
Question: You children no longer perform devotion and yet, how are you definitely still devotees?
Answer: For as long as you have body consciousness, you are devotees. You are studying to become knowledgeable. When you pass your examinations and become karmateet, you will be called completely knowledgeable. There will then be no need to study.

Om shanti. There are two things: God and the devotees, children and the Father. There are many devotees, but only one God. You children find these things very easy. Souls perform devotion through their bodies. Why? To meet God, the Father. You devotees have now understood the drama. When you become completely knowledgeable souls, you won’t remain here. When you pass an examination whilst studying at school, you go to the next class. God is now teaching you. Knowledgeable souls have no need to study. God is teaching devotees. You know that we souls used to perform devotion. The Father is teaching us how we can move away from devotion and enter knowledge. We don’t perform devotion now, but we still become body conscious. You understand that those devotees don’t even know God. They themselves say: We do not know. The Father also asks those who were number one devotees: Did you know the God whose devotees you were? In fact, there should be only one God. Here, there are so many Gods. They continue to call themselves God! That is called ignorance. There is extreme darkness in devotion. That is the path of devotion. Devotees sing: When the Satguru gives the ointment of knowledge, the darkness of ignorance is dispelled. Gurus cannot give the ointment of knowledge. There are many gurus. You children know what you used to do in devotion, whom you used to remember and whom you used to worship. You have now become free from that darkness of devotion because you now know the Father. The Father has given you His introduction. Sweetest children, you are souls. You play your parts through those bodies. Your knowledge is unlimited. You continue to play unlimited parts. You have left the limited and gone into the unlimited. This world (population) has also become unlimited whilst expanding and it will then definitely become limited. You children now know how you go from the limited into the unlimited and the unlimited into the limited. A soul is like a tiny star. People understand this and yet they make such a huge lingam image. What can they do, because they cannot worship a tiny point? They say: “A star shines in the centre of the forehead,” but how can they worship that star? No one knows God, but they know about the soul. The soul resides in the centre of the forehead; that’s all! It doesn’t enter their intellects that each soul takes a body and plays his part. You were the first ones who performed worship; you used to make huge lingams. People continue to make bigger and bigger images of Ravan day by day. They cannot make smaller images of Ravan. Human beings are at first small and then they become big. They never show Ravan as small. He doesn’t become big or small. He is not a physical thing. The five vices are called Ravan. There is growth of the five vices because people continue to become tamopradhan. Previously, there wasn’t so much body consciousness, but it has continued to increase. They worship one and then worship another and it has continued to grow in that way. Souls have become tamopradhan. The intellects of no other human beings in the world are aware of when they are satopradhan and when they become tamopradhan. People are completely ignorant of these things. Knowledge is not difficult. The Father comes and gives you completely easy knowledge. He teaches you that. Even then, there is just the essence of the study that remains. We souls are children of the Father. We have to remember the Father. It is also remembered that only a handful out of multimillions emerged. Only a handful out of multimillions know the Father accurately. They ask: Can the Father be like that? Everyone knows their father, so why have they forgotten the Father? This is called the game of the maze. One is limited fathers and the other is the unlimited Father. You receive an inheritance from the two fathers; you receive a small inheritance from a limited father. Day by day, it gradually becomes very little; it is as though it is nothing. Until the unlimited Father comes, your stomachs cannot become full. Your stomachs become completely empty. The Father comes and fills your stomachs. In every aspect, He fills your stomachs in such a way that you children no longer need anything. He fulfils all your desires and you become fully satisfied souls, just as a (departed) soul becomes satisfied when the brahmin priest is fed. This is unlimited satisfaction. Look how much difference there is! Look how much difference there is between the limited satisfaction of souls and the unlimited satisfaction of souls. By knowing the Father you become satisfied because the Father is making you into the masters of heaven. You children know that you are children of the unlimited Father. Everyone remembers the Father. Even though some people say that this is nature (the elements) and that they will merge into the brahm element, the Father has told you that no one can merge into the brahm element. This is the eternal drama which continues to turn. There is no need at all to become confused about this. The cycle of the four ages continues to turn; it will continue to repeat identically. There is just the one Father and also only one world. Those people beat their heads so much and think that there is a world on the moon or in the stars. They look for that so much. They even think of buying a plot of land on the moon, but how would that be possible? Whom would they pay? That is called the arrogance of science. However, there is nothing really there. People continue to try to do things, but that is the pomp of Maya. They have even greater show than that of heaven. They have completely forgotten heaven. There was limitless wealth in heaven. Look how much wealth they took away from just the one temple! There was so much wealth in Bharat alone. All the treasure-stores were overflowing. Mahmud Guznavi came and looted everything. You remain powerful for half the cycle and there is no mention of stealing etc. There is no kingdom of Ravan at that time. As soon as the kingdom of Ravan begins, the stealing, looting and fighting etc. begin. People mention the name of Ravan, but Ravan is not a being: that is just the existence of the vices. Look what people do for Ravan; they celebrate so much. You too used to celebrate Dashera. People used to go and see how they burn an effigy of Ravan and then they would go to loot the gold (collect a yellow plant from trees). What was that? You now wonder about all of those things. Look what you became and how much worshipping you used to do. When they have a big day, look what they continue to do. The path of devotion is like playing with dolls and you know for how long it continues. They didn’t do so much in the beginning. Then, expansion gradually took place and look what the condition has now become! Why do they spend so much money on pictures and building temples? All of that is a waste of money. They spend hundreds of thousands of rupees on building temples etc. The Father sits here and explains to you with so much love: I gave you children so much wealth. So, where did you lose it all? Look what you have become in the kingdom of Ravan from what you were! It isn’t that you have to remain happy thinking that it is the will of God. That is not the will of God; that is the will of Maya. You are now receiving your fortune of the kingdom of God where there is no question of sorrow. It is now that you receive the understanding of how much difference there is between God’s will and Maya’s will, but that too is numberwise according to your efforts. You can understand which ones receive the injection of knowledge. So-and-so has been injected well with the injection of knowledge; so-and-so has been injected less and so-and-so has not been injected at all. Only Baba knows this. Everything depends on your service. It is only from your service that the Father can tell you: This one has not been injected at all; he doesn’t know how to do service at all. There are also some who have been injected with knowledge more, whereas others have not been injected at all. It is said: When the Satguru gives the ointment of knowledge, the darkness of ignorance is dispelled. The Supreme Father, the Supreme Soul, is the Ocean of Knowledge and the Ocean of Happiness. People have then said that He is in the pebbles and stones. You children should have so much faith that the unlimited Father is giving you unlimited happiness. You sing: Unlimited Baba, when You come, we will belong to You and we will only follow Your directions. On the path of devotion, you don’t even know the Father. This part is only performed at this time. It is only now that the Father teaches you. You know that this part of studying will continue again after 5000 years. The Father will come again after 5000 years. All souls are brothers and then they adopt bodies and play their parts. The human world also continues to grow. There is a stock of souls. Just as the stock of human beings comes to an end, to that extent there will be a stock of souls there. There cannot be one more or one less actor. All of you are unlimited actors. You have all received eternal parts. This is wonderful! You children have now become so sensible. This study is so elevated. It is the Father, the Ocean of Knowledge, Himself, who is teaching you. All the rest are oceans of devotion. Just as there is respect for devotion, so there is also respect for knowledge. People make so many donations and perform so much charity on the path of devotion in the name of God. This is because such big Vedas and scriptures are created. You children have now received understanding of the difference between devotion and knowledge. Such a broad and unlimited intellect is needed. Your vision would never be drawn to anyone. Would you say: I want to see the king or queen? What is there to see in them? You don’t have any desires in your hearts. All of this is going to be destroyed. Whatever everyone has, it is going to be destroyed. The stomach only wants two chapattis, but people commit so much sin even for that. At this time, there is nothing but sin in the world. The stomach makes you commit a lot of sin. People continue to slander others. They even earn a lot of money. They hide so much money, but what can the Government do? However, no matter how much someone may try to hide it, it cannot remain hidden. There will now also be natural calamities. Only a little more time remains. The Father says: You can do whatever you want for the livelihood of your body. You are not forbidden to do that. The mercury of happiness of you children should always remain high. Always remember the Father and the inheritance. The Father is making you into the masters of the whole world. All the earth and sky will belong to you; there are no limitations at that time. You children know that you were the masters. Bharat is remembered as the imperishable land. You children should have a lot of happiness. There is also happiness in limited studies, but this is the unlimited study that the unlimited Father is teaching you. You should remember such a Father. You children can understand what physical business etc. is. It is nothing at all whereas what is the inheritance we receive from the Father? There is the difference of day and night. While continuing with your worldly business etc., you can still claim a double crown. The Father has come to teach you children and so you should remain happy. You have to continue to do all the other work too. You understand that this is an old world. All preparations are being made for its destruction. They perform such acts that there is fear of a big war starting. All of that has to happen according to the drama. It isn’t that God is making it happen; it is fixed in the drama. If not today, then tomorrow, destruction has to take place. You are now studying. A new world is definitely needed for you. You should remember these things and become happy inside. Baba has taken this chariot, but he doesn’t have anything; he renounced everything. What would I do with this when I am receiving the unlimited sovereignty? Baba also had a song composed: When the first one found Allah, what would he do with this “donkeyship?” He gave away everything he had, more or less, and wound everything up completely. He even gave his body to Baba. Oho! I am going to become a master of the world! I have become a master many times. It is so easy! You may live at home but consider yourselves to be souls and remember the Father. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. You have to become fully satisfied and have a broad and unlimited intellect so that your vision is not drawn to anything else. Let there be no desires in your heart because all of this is to be destroyed.
  2. While acting for the livelihood of your body, let your mercury of happiness always remain high. Remember the Father and the inheritance. Remove your intellect from the limited and always keep it in the unlimited.
Blessing: May you remain absorbed in the Father and service and become a constant server who is free from obstacles.
Where there is enthusiasm for service, you are easily able to step away from all situations. When you remain absorbed in the one Father and service and you will easily become a constant server and a conqueror of Maya who is free from obstacles. Service changes its form from time to time and will continue to change. You will not now need to say a lot, but people themselves will say that this is an elevated task and also ask to let them co-operate with you. This is a sign of the closeness of time. So, continue to do service with a lot of zeal and enthusiasm and continue to move forward.
Slogan: Become stable in the stage offullness and you will experience any upheaval of nature to be like passing clouds.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 26 AUGUST 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 26 August 2019

To Read Murli 25 August 2019:- Click Here
26-08-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – अभी तुम्हारी सब आशायें पूरी होती है, पेट भर जाता है, बाप आये हैं तुम्हें तृप्त आत्मा बनाने”
प्रश्नः- अभी तुम बच्चे भक्ति तो नहीं करते हो लेकिन भक्त जरूर हो – कैसे?
उत्तर:- जब तक देह-अभिमान है तब तक भक्त हो। तुम ज्ञानी बनने के लिए पढ़ रहे हो। जब इम्तहान पास करेंगे, कर्मातीत बन जायेंगे तब सम्पूर्ण ज्ञानी कहेंगे। फिर पढ़ने की दरकार नहीं।

ओम् शान्ति। भक्त और भगवान दो चीज़ें हैं ना। बच्चे और बाप। भक्त तो ढेर के ढेर हैं। भगवान है एक। तुम बच्चों को बहुत सहज बात लगती है, आत्मायें शरीर द्वारा भक्ति करती हैं, क्यों? भगवान बाप से मिलने के लिए। तुम भक्त अभी ड्रामा को समझ गये हो। जब पूरे ज्ञानी बन जायेंगे तो यहाँ नहीं रहेंगे। स्कूल में पढ़ते हैं, इम्तहान पास किया तो दूसरे दर्जे में चले जायेंगे। अभी तुमको भगवान पढ़ा रहे हैं। ज्ञानी को तो पढ़ाई की दरकार नहीं रहती। भक्तों को भगवान पढ़ा रहे हैं। तुम जानते हो हम आत्मा भक्ति करते थे। अब भक्ति से निकल ज्ञान में कैसे जायें – यह बाप सिखलाते हैं। अभी भक्ति करते नहीं हो परन्तु देह-अभिमान में तो आ जाते हो ना। यह भी तुम समझते हो, वो भक्त लोग तो भगवान को भी नहीं जानते। खुद कहते हैं हम नहीं जानते। नम्बरवन जो भक्त हैं, उनसे भी बाप पूछते हैं तुम जिस भगवान के भक्त थे, उनको जानते थे? वास्तव में भगवान भी होना एक चाहिए। यहाँ तो अनेक भगवान हो गये हैं। अपने को भगवान कहते रहते हैं। इसको कहा जाता है अज्ञान। भक्ति में घोर अन्धियारा है। वह है ही भक्ति मार्ग। भक्त लोग गाते हैं ज्ञान अंजन सतगुरू दिया, अज्ञान अंधेर विनाश। ज्ञान अंजन गुरू लोग नहीं दे सकते। गुरू तो ढेर हैं। तुम बच्चे जानते हो भक्ति में क्या-क्या करते थे, किसको याद करते थे, किसको पूजते थे। वह भक्ति का अन्धियारा अभी तुम्हारा छूट गया क्योंकि बाप को जान लिया। बाप ने परिचय दिया है – मीठे-मीठे बच्चे, तुम आत्मा हो। तुमने इस शरीर के साथ पार्ट बजाया है। तुम्हारा है बेहद का ज्ञान। बेहद का पार्ट बजाते रहते हो। तुम हद से निकल अब बेहद में चले गये हो। यह दुनिया भी बढ़ते-बढ़ते कितनी बेहद में चली गई है। फिर जरूर हद में आयेगी। हद से बेहद में, बेहद से हद में कैसे आते हैं – अभी तुम बच्चों को मालूम पड़ता है। आत्मा छोटी स्टार मिसल है, इतना समझते हैं फिर भी इतना बड़ा लिंग बना देते हैं। वह भी क्या करें क्योंकि छोटी-सी बिन्दु की पूजा तो कर न सकें। कहते हैं भ्रकुटी के बीच चमकता है सितारा। अब उस सितारे की भक्ति कैसे करें? भगवान का तो किसको पता नहीं है। आत्मा का मालूम है। आत्मा भ्रकुटी के बीच रहती है। बस। यह बुद्धि में नहीं आता कि आत्मा ही शरीर ले पार्ट बजाती है। पहले-पहले तुम ही पूजा करते थे। बड़े-बड़े लिंग बनाते हैं। रावण का भी दिन-प्रतिदिन बड़ा चित्र बनाते हैं, छोटा रावण तो बना न सकें। मनुष्य तो छोटा होता है फिर बड़ा होता है। रावण को कभी छोटा नहीं दिखाते हैं, वह तो छोटा-बड़ा होता नहीं। वह कोई स्थूल चीज़ नहीं। रावण 5 विकारों को कहा जाता है। 5 विकारों की वृद्धि होती जाती है क्योंकि तमोप्रधान बनते जाते हैं। आगे देह-अभिमान इतना नहीं था, फिर बढ़ता गया है। एक की पूजा की फिर दूसरे की पूजा की। ऐसे वृद्धि को पाते गये हैं। आत्मा तमोप्रधान बन गई है। दुनिया में और कोई मनुष्य नहीं होगा जिसको यह बुद्धि में हो कि सतोप्रधान कब होते हैं? फिर तमोप्रधान कब बनते हैं? इन बातों से मनुष्य बिल्कुल अन्जान हैं। नॉलेज कोई डिफीकल्ट नहीं है। बाप आकर बिल्कुल सहज नॉलेज सुनाते हैं, पढ़ाते हैं। फिर भी सारी पढ़ाई का तन्त रह जाता है – हम आत्मा बाप के बच्चे हैं, बाप को याद करना है।

यह भी गायन है – कोटों में कोऊ, कितने थोड़े निकलते हैं। कोटों में कोई ही यथार्थ रीति जानते हैं। किसको? बाप को। कहेंगे, बाप कभी ऐसा होता है क्या? अपने बाप को तो सभी जानते हैं। बाप को क्यों भूल गये हैं? इसका नाम ही है भूल-भुलैया का खेल। एक होता है हद का बाप, दूसरा होता है बेहद का बाप। दो बाप से वर्सा मिलता है। हद के बाप से थोड़ा वर्सा मिलता है। दिन-प्रतिदिन बिल्कुल थोड़ा होता जाता है। जैसेकि कुछ भी है नहीं। जब तक बेहद का बाप न आये तो पेट ही न भरे। पेट ही सारा खाली हो जाता है, बाप आकर पेट भरते हैं। हर बात में पेट ऐसा भर देते हैं जो तुम बच्चों को कोई चीज़ की दरकार ही नहीं। सब आशायें पूरी कर देते हैं। तृप्त आत्मा हो जाती है। जैसे ब्राह्मणों को खिलाते हैं तो आत्मा तृप्त हो जाती है। यह है बेहद की तृप्ति। फर्क देखो कितना है। आत्मा के हद की तृप्ति और बेहद की तृप्ति में फर्क देखो कितना है। बाप को जानने से ही तृप्ति हो जाती है क्योंकि बाप स्वर्ग का मालिक बनाते हैं। तुम जानते हो हम बेहद बाप के बच्चे हैं, बाप को तो सब याद करते हैं ना। भल कोई-कोई कहते हैं – यह तो नेचर है, हम ब्रह्म में लीन हो जायेंगे। बाप ने बताया है कि ब्रह्म में कोई भी लीन नहीं होता। यह तो अनादि ड्रामा है जो फिरता रहता है, इसमें मूंझने की बिल्कुल दरकार नहीं। 4 युगों का चक्र फिरता रहता है। हूबहू रिपीट होता रहेगा। बाप एक ही है, दुनिया भी एक ही है। वो लोग कितना माथा मारते हैं। समझते हैं मून में भी दुनिया है, सितारों में भी दुनिया है। कितना ढूंढते हैं। मून में भी प्लाट लेने का सोचते हैं – यह कैसे हो सकता। किसको पैसा देंगे? इसको कहा जाता है साइंस का घमण्ड। बाकी तो है कुछ भी नहीं। ट्रायल करते रहते हैं। यह माया का पाम्प है ना। स्वर्ग से भी जास्ती शो करके दिखाते हैं। स्वर्ग को तो भूल ही गये हैं। स्वर्ग में तो अथाह धन था। एक मन्दिर से ही देखो कितना धन ले गये। भारत में ही इतना धन था, बहुत खजाना भरपूर था। मुहम्मद गजनवी आया, लूटकर ले गया। आधाकल्प तो तुम समर्थ रहते हो, चोरी आदि का कोई नाम नहीं होता। रावण राज्य ही नहीं। रावण राज्य शुरू हुआ और चोरी चकारी, झगड़े आदि शुरू हुए हैं। रावण का नाम लेते हैं। बाकी रावण कोई है नहीं। विकारों की प्रवेशता हुई। रावण के लिए मनुष्य क्या-क्या करते हैं। कितना मनाते हैं। तुम भी दशहरा मनाते थे, देखने जाते थे रावण को कैसे जलाते हैं। फिर सोना लूटने जाते हैं। है क्या चीज़, अभी वन्डर लगता है। क्या बन पड़े थे। कितनी पूजा आदि करते थे। कोई बड़ा दिन होता है तो क्या-क्या करते रहते हैं। भक्ति मार्ग जैसे गुड़ियों का खेल है। वह भी कितना समय चलता है, यह तुम जानते हो। शुरू में इतना नहीं करते थे। फिर वृद्धि को पाते-पाते अब देखो क्या हाल हो गया है। इतना खर्चा कर चित्र वा मन्दिर आदि क्यों बनाते हैं? यह है वेस्ट ऑफ मनी। मन्दिर आदि बनाने में लाखों रूपये खर्च करते हैं। बाप कितना प्यार से बैठ समझाते हैं। हमने तुम बच्चों को अथाह धन दिया, वह सब कहाँ गंवाया। रावण राज्य में तुम क्या से क्या बन पड़े हो। ऐसे नहीं कि ईश्वर की भावी पर राज़ी रहना है। यह कोई ईश्वर की भावी नहीं है, यह तो माया की भावी है। अभी तुमको ईश्वर का राज्य-भाग्य मिलता है। वहाँ तो दु:ख की कोई बात होती नहीं। ईश्वर की भावी और आसुरी भावी में कितना फर्क है। यह समझ तुमको अभी मिलती है। सो भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार। ज्ञान इन्जेक्शन किसको लगता है, यह तो समझ सकते हैं। फलाने को ज्ञान का इन्जेक्शन अच्छा लगा है, फलाने को कम लगा हुआ है, इनको बिल्कुल लगा हुआ ही नहीं है। यह तो बाबा ही जानते हैं ना। सर्विस पर सारा मदार है। सर्विस से ही बाप बतायेंगे इनको इन्जेक्शन लगा नहीं, बिल्कुल सर्विस करना जानते ही नहीं। ऐसे भी हैं किसको जास्ती इन्जेक्शन लगा है, किसको बिल्कुल नहीं।

कहा जाता है – ज्ञान अंजन सतगुरू दिया, अज्ञान अन्धेर विनाश। ज्ञान का, सुख का सागर परमपिता परमात्मा है। फिर उनको ठिक्कर भित्तर में ठोक दिया है। बच्चों को कितना निश्चय होना चाहिए। बेहद का बाप हमको बेहद का सुख देते हैं। गाते भी हैं बेहद का बाबा आप जब आयेंगे तो हम आपके ही बनेंगे। आपकी मत पर ही चलेंगे। भक्ति में तो बाप का मालूम ही नहीं रहता है, यह पार्ट अभी ही चलता है। अभी ही बाप पढ़ाते हैं। तुम जानते हो यह पढ़ाई का पार्ट फिर 5 हजार वर्ष बाद चलेगा। बाप फिर 5 हजार वर्ष बाद आयेंगे। आत्मायें सब भाई-भाई हैं फिर शरीर धारण कर पार्ट बजाती हैं। मनुष्य सृष्टि की भी वृद्धि होती रहती है। आत्माओं का भी स्टॉक है ना। जितना मनुष्यों का स्टॉक पूरा होगा उतना ही वहाँ आत्माओं का स्टॉक होगा। एक्टर्स एक भी कम जास्ती नहीं होंगे। यह सब बेहद के एक्टर्स हैं। इनको अनादि पार्ट मिला हुआ है। यह वन्डरफुल है ना। अभी तुम बच्चे कितने समझदार बने हो। यह पढ़ाई कितनी ऊंच है। तुम्हें पढ़ाने वाला स्वयं ज्ञान का सागर बाप है, बाकी सब हैं भक्ति के सागर। जैसे भक्ति का मान है, वैसे ज्ञान का भी मान है। भक्ति में कितना मनुष्य दान-पुण्य करते हैं ईश्वर अर्थ क्योंकि वेद शास्त्र आदि कितने बड़े बड़े बनाते हैं।

अभी तुम बच्चों को भक्ति और ज्ञान का अन्तर मिला है। कितनी विशाल बुद्धि चाहिए। तुम्हारी कभी कोई में आंख नहीं जायेगी। तुम कहेंगे क्या हम इन किंग क्वीन आदि को देखें। उनको क्या देखना है। दिल में कोई आश नहीं होती। यह सब खत्म होने वाला है। जिनके पास जो है सब खत्म होने का है। पेट तो वही दो रोटी मांगता है लेकिन इसके लिए कितना पाप करते हैं। इस समय दुनिया में पाप ही पाप हैं। पेट पाप बहुत कराता है। एक-दो के ऊपर झूठे कलंक लगा देते हैं। पैसे भी ढेर कमाते हैं। कितने पैसे छिपा लेते हैं। गवर्मेन्ट क्या कर सकती है। परन्तु कोई कितना भी छिपावे, छिप नहीं सकता। अभी तो नैचुरल कैलेमिटीज भी आनी हैं। बाकी थोड़ा समय है। बाबा कहते हैं, शरीर निर्वाह अर्थ कुछ भी करो, उसके लिए मना नहीं करते। बच्चों को खुशी का पारा चढ़ा रहना चाहिए। बाप और वर्सा याद रहे। बाप तो सारे विश्व का मालिक तुमको बना देते हैं। धरती आसमान सब अपने हो जाते हैं। कोई भी हद नहीं रहती। बच्चे जानते हैं हम ही मालिक थे। भारत अविनाशी खण्ड गाया हुआ है। तो तुम बच्चों को बहुत खुशी रहनी चाहिए। हद के पढ़ाई की भी खुशी होती है ना। यह तो बेहद की पढ़ाई है। बेहद का बाप पढ़ाते हैं। ऐसे बाप को याद करना चाहिए। बच्चे तो समझ सकते हैं – वह जिस्मानी धंधा आदि क्या है, कुछ भी नहीं। हम बाप से क्या वर्सा पाते हैं। कितना रात-दिन का फर्क है। हम तो जिस्मानी धंधा आदि करते भी जाकर सिरताज बनेंगे। बाप आया है पढ़ाने तो बच्चों को खुशी होनी चाहिए। वह कामकाज भी करते रहना है। यह तो समझते हैं, यह पुरानी दुनिया है, इनके विनाश के लिए सब तैयारियां हो रही हैं। ऐसे-ऐसे काम करते हैं जो डर लगता है – कहाँ बड़ी लड़ाई न लग जाए। यह सब ड्रामा अनुसार होना ही है। ऐसा नहीं कि ईश्वर कराते हैं। ड्रामा में नूंध है। आज नहीं तो कल विनाश जरूर होना है। अभी तुम पढ़ रहे हो। तुम्हारे लिए नई दुनिया जरूर चाहिए। यह सब बातें अन्दर सिमरण कर खुश होना चाहिए। बाबा ने यह रथ भी ले लिया, इनको तो कुछ भी है नहीं। सब कुछ छोड़ दिया। बेहद की बादशाही मिलती है तो फिर यह क्या करेंगे। बाबा का गीत भी बनाया हुआ है – अल्फ को अल्लाह मिला तो फिर यह गदाई क्या करेंगे। कम जास्ती दे एकदम खलास कर दिया। शरीर भी बाबा को दे दिया। ओह! हम तो विश्व के मालिक बनते हैं, अनेक बार मालिक बने हैं। कितना सहज है। तुम भल अपने घर में रहो, अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ऐसा तृप्त और विशालबुद्धि बनना है जो किसी में भी आंख न डूबे। दिल में कोई भी आश न रहे क्योंकि यह सब विनाश होना है।

2) शरीर निर्वाह अर्थ कर्म करते खुशी का पारा सदा चढ़ा रहे। बाप और वर्सा याद रहे। बुद्धि हद से निकल सदा बेहद में रहे।

वरदान:- बाप और सेवा में मग्न रहने वाले निर्विघ्न, निरन्तर सेवाधारी भव
जहाँ सेवा का उमंग है वहाँ अनेक बातों से सहज ही किनारा हो जाता है। एक बाप और सेवा में मग्न रहो तो निर्विघ्न, निरन्तर सेवाधारी, सहज मायाजीत बन जायेंगे। समय प्रति समय सेवा की रूपरेखा बदल रही है और बदलती रहेगी। अभी आप लोगों को ज्यादा कहना नहीं पड़ेगा लेकिन वह स्वयं कहेंगे कि यह श्रेष्ठ कार्य है इसलिए हमें भी सहयोगी बनाओ। यह समय के समीपता की निशानी है। तो खूब उमंग-उत्साह से सेवा करते आगे बढ़ते चलो।
स्लोगन:- सम्पन्नता की स्थिति में स्थित हो, प्रकृति की हलचल को चलते हुए बादलों के समान अनुभव करो।

TODAY MURLI 26 AUGUST 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 26 August 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 25 August 2018 :- Click Here

26/08/18
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
31/12/83

If the hand of shrimat is in your hands, you will continue to

move with your hand in His hand throughout the whole age.

Today, the Beloved has come to the shores of the ocean, that is, to the shore of Madhuban to celebrate a sweet meeting with His spiritual lovers. All of you have come from so far away to celebrate a meeting. Why? You will not find such a wonderful Beloved throughout the whole cycle. There is just the one Beloved, but how many lovers are there? The one Beloved has so many lovers. So, today, Baba has especially come to the gathering of lovers. You celebrate in a gathering; you don’t have to say anything. So, today, Baba has not come to speak knowledge to you; He has come to meet you and to celebrate a meeting. The double foreign children have especially come to celebrate today. You have come with the thought of celebrating the New Year. In this New Year, BapDada is also giving you greetings filled with love and co-operation. The confluence age is the new age. The future golden age is the reward of the present new age and new life. For Brahmins, it is now the new and elevated age. The new age, the new world, the new days and new nights began for you the moment you became Brahmins. Every moment of this new age and new life is worth multimillions; it is worth diamonds. In the golden age you won’t sing the song: This day feels like a new day, this night feels like a new night. This refers to the present time. From the beginning, with which song did BapDada awaken you? Do you remember that song? Awaken o brides, awaken! Why should you awaken? Because the new age has come. This is the song of your childhood, is it not? You have now created new songs. The original song that the Father played was that one, was it not? So, when is it the new age? Now! Beside the old, this is new, is it not? Your old world and old life have now changed. You have come into a new life. You were unconscious. Were you aware of who you are? So you were unconscious, were you not? From being unconscious, you became conscious. You experienced a new life, did you not? As soon as you opened your eyes, you saw your new relationship and new world, did you not? So, greetings for the New Age and the New Year, in this new age.

In the world outside too, people say to one another “Happy New Year!” In fact, they are never ever happy, but they say, “Happy New Year!” Now, not only will all of you genuinely say “Happy New Year!” but you will say “Happy New Age!” The whole age is an age of happiness. When you say “Happy New Year“, what do you do when you give these greetings? The custom abroad is to first of all shake hands. How does BapDada shake hands with you? They shake hands physically for just a second. However, BapDada shakes hands with you throughout the whole age, that is, He gives you His hand of one elevated direction (shrimat), shakes hands with you and takes you back with Him at the end. You always have the hand of shrimat with you and this is why you continue to move along with your hand in His hand throughout the whole age. To walk hand-in-hand is also a sign of love and co-operation. Whenever someone walking gets tired, another person holds his hand and they walk together. The spiritual Beloved never lets go of the hands of the lovers. His promise is that you will have His hand and company till the end. All of you lovers have caught hold of His hand very firmly, have you not? You are not holding it loosely, are you? You are not going to let go of it, are you? Those who let go of it and then hold onto it again, raise your hands! Is there anyone here who sometimes holds it and then sometimes lets go of it?

This is their speciality; they are not those who hide anything. They are those who speak honestly and, just by them speaking about it honestly, half the obstacle is thereby removed. However, for how long will you continue with a weak bargain? In the old year, you are going to finish all the customs and systems of the past, are you not? Or, will the same customs and systems continue in the New Year? Whatever has happened up to now, put a full stop to that and, from now on, apply the tilak of awareness of constantly holding His hand and keeping His company. On an important day or a day of happiness, they especially apply a tilak as a symbol of happiness, and fortune. It is also the symbol of being wed. On the day of a special bhatthi of remembrance, you apply a tilak of awareness, do you not? Why do you apply it? Why do you especially apply a tilak on the day of a bhatthi? You apply a tilak on that day as a symbol of the determination to remain the embodiment of an easy and elevated yogi throughout the whole day. So, today, those who are a little weak, with your determined thoughts, put a tilak as a full stop and secondly, apply a tilak of your form of power. Do you know how to put a full-stop? Do the Pandavas know how to apply a full stop? Achcha, do the Shaktis know how to apply a full stop? An indelible full stop? What did all of you promise this morning? You are going to celebrate a ceremony, are you not? (We are going to have a marriage ceremony.) Are you not already married? Have you not produced any children yet? You are already married, but you have come to celebrate your wedding anniversary. Those who are not yet married, raise your hands! No matter how much mischief you get up to, the Beloved is not going to leave you alone, because He knows that, if He lets go of you, where would you go? Nowadays, the custom abroad is that they leave the family and become hippies. So, do you want to be a hippy? Do you want to become ever happy or a hippy? Look at their condition; you can’t even bear to look at them. All of you are sovereigns. This is why BapDada knows that you sometimes become mischievous. However, BapDada has promised you that He will take you back with Him and so He cannot break His promise. This is why you have to go with Him. Achcha.

What newness will you bring about in the New Year? You will do something new, will you not? Have you made any plans? Have the instrument teachers made any plans? You will reveal in this land who the God of the Gita is, but what will you do abroad? To put into a practical form the things that are still missing is very good. According to the time, everything is becoming practical. With this aspect, you will beat the drums in Bharat. You will awaken the religious leaders and also create a lot of upheaval. When someone has woken up a little and says “This is very good” and goes back to sleep, then, when they don’t wake up from sleep again, you pour very cold water on them. So by especially pouring very cold water on the people of Bharat, they will awaken. Achcha. So what newness will you bring about this year?

In the world outside, wherever there is an upheaval, you have to hoist at that place the flag of a constantly unshakeable stage of happiness. The Governmentmay be in upheaval, but let the incognito jewels of God constantly keep flying the flag of being complete and unshakeable. Let the Government’s attention also be drawn to the unique incognito souls in this country who are completely unique and lovely to the whole world. Make those who consider themselves to be poor become full to overflowing with imperishable wealth, and give them the experience of being the most overflowing souls who are constantly multimillionaires. Spread such a wave that they forget the sorrow of their poverty. Let whoever comes here feel that they have become overflowing with limitless treasures and also experience that there is another type of wealth – that with this wealth, physical wealth will automatically come close to you. It doesn’t cause you sorrow. Achcha. So, what newness will you bring about abroad in the New Year? Centres continue to open and will continue to be opened. Now, this year, abroad too, let there be especially be quality service in a unique way. All of you have a special quality anyway, but now all of you quality souls have to prepare a special group of even more quality souls who can become co-operative in the task of establishment. Now prepare such a group abroad from people from all around the world, so that this group can especially become instruments to serve the people of Bharat. The well-known ones who spread the sound are a different group. However, this group has to be of those who are in a relationship with you, whereas the other group is of those who are only in contact with you. This group has to be of quality and in closer relationship. You are experienced in the special transformation of life. Therefore, through your experience, enable more heir-quality souls, with even more quality, to continue to emerge. That is the group who are instruments for service and this is the group of heir-quality servers. They need to be well known and also heirs. When such a group is prepared abroad, let them go on a tour of this land. With the power of your experience, inspire all the politicians, religious leaders and all types of souls to want to have the same experience. Therefore, now prepare a group of heir quality serviceable souls who can tour around. Do you understand?

The facilities to spread the sound abroad everywhere are easy. This is why the sound is spreading abroad and will continue to spread. However, the facilities to spread sound in Bharat are not so easy. You need to do personal service to awaken the people of Bharat. In that too, let it be service through your very simpleexperiences. People of Bharat especially will be transformed when they hear about the special experiences of transformation. People of Bharat are much more attracted when they hear the experiences of experienced people who have stories of such powerful transformation in their lives. In Bharat they have the system of listening to stories etc. Do you understand? What do the people abroad have to do? So many teachers have come, so prepare such a group and bring it here. Achcha.

BapDada is giving a rosary of blessings as the special gift for the New Year. When a ceremony takes place, you are garlanded. BapDada is giving all you lovers a gift of a rosary of blessings. “May you always remain content and with this contentment make others content. Let every thought be filled with speciality. Let every word and deed be filled with speciality. Remain constantly full of such speciality. Always have an easy nature, easy words and actions filled with easiness. Remain embodiments of such easiness. Always follow the directions of the One, have all relationships with the One, have all attainments from the One and have the easy practice of being constantly with the One. Remain constantly happy and distribute the treasures of happiness. Spread waves of happiness over everyone. In the same way, let the smile of happiness sparkle on your face. Always remain cheerful in this way. Always stay in remembrance and make progress. Always keep the rosary of blessings with you. Do you understand? This is the gift for the New Year. Achcha.

To those who constantly have all blessings, to the elevated souls who are immortal with their hands in His hand and are in His company, to those who bring the speciality of newness in every thought in their practical lives, to such special souls, immortal love and remembrance for the New Year of the New Age; love, remembrance and namaste for the flying stage.

Personal Meetings:

Do you constantly consider yourselves to be charitable souls? The greatest charity of all is to give others the Father’s message and make them belong to the Father. You are the charitable souls who perform such elevated actions because a charitable soul at this time becomes a soul worthy of worship for all time. Only a charitable soul becomes worthy of worship. Charity for a short time too enables you to attain fruit. That is for a temporary period whereas this is imperishable charity because you make them belong to the eternal Father. The fruit received from this is imperishable. You become souls worthy of worship for birth after birth. Therefore, constantly continue to perform charitable deeds whilst considering yourselves to be charitable souls. The account of sin has ended. The account of past sins has also ended, because by performing charity, the weight of charitable deeds becomes greater, and the sins therefore decrease. Continue to perform charitable deeds and the balance of charity will increase and that of sins will reduce, that is, it will end. Simply check that every thought is a charitable thought and that every word is a charitable word. There mustn’t be any wasteful words. Sins will not be cut away with waste and you won’t receive the fruit of charity. Therefore, let every action, every word and every thought be of charity. Always remember that you are such elevated, charitable souls who constantly perform elevated actions. What is the work of the confluence-aged Brahmin souls? To perform charity, for the more charitable work you do, the more happiness you experience. When you give someone a message whilst simply moving along, that happiness lasts for so long. So charitable deeds always increase your treasures of happiness, whereas sinful deeds make you lose your happiness. If your happiness vanishes, then understand that even if you have not committed a big sin, a small sin has definitely been committed. To become body conscious is also a sin, because when you don’t remember the Father, that would definitely be sin, would it not? Therefore, may you be a constantly charitable soul. Achcha.

Midnight greetings to all the children:

To all the loving long-lost and now-found constantly serviceable children, greetings for new zeal and a new life filled with new enthusiasm and for the New Year. The confluence age is the New Age in which every moment is new. Every thought brings newest zeal and enthusiasm. In such an age, BapDada constantly gives you congratulations for the New Age. Nevertheless, He is giving special love and remembrance on the special day, so that you too always make new service plans for yourself and put them into a practical form. Also continue to inspire others with your new life. BapDada received letters of love and remembrance and greetings cards for the New Year from all the residents of London and all those abroad. He also received several gifts. In such a New Age, BapDada is especially giving greetings filled with blessings for the New Year to the children who perform elevated actions and who create the New Age. All of you are doing very good service with love and effort. May you always remain busy in service and, through your service, enable others to have the right to receive the inheritance from the Father. Achcha.

To all the children in this land and abroad, special good wishes over and over again filled with love and remembrance. Achcha.

Blessing: May you be constantly co-operative and accumulate everything by using what still remains of your body, mind and wealth for the Godly task.
Each one’s finger has been shown in the memorial of lifting the Goverdhan mountain. This is a sign of your co-operation. In the picture of the memorial, they have portrayed the Father’s company and also service. You children are now co-operating with BapDada and this is why the memorial has been created. However much of your body, mind and wealth you used on the path of devotion, 99% of that was wasted. Apply the remaining one per cent for God’s task with a true heart and you will once again accumulate multi-million fold.
Slogan: Those who are humble automatically receive respect from everyone.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 26 AUGUST 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 26 August 2018

To Read Murli 25 August 2018 :- Click Here
26-08-18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 31-12-83 मधुबन

“श्रीमत रूपी हाथ सदा हाथ में है तो सारा युग हाथ में हाथ देकर चलते रहेंगे”

आज सागर के कण्ठे पर अर्थात् मधुबन के कण्ठे पर मधुर मिलन मनाने के लिए माशुक अपने रूहानी आशिकों से मिलने आये हैं। कितना दूर-दूर से मिलन मनाने के लिए आये हैं, क्यों? ऐसा वण्डरफुल माशूक सारे कल्प में मिल नहीं सकता। एक माशूक और आशिक कितने हैं? अनेक आशिक एक माशूक के। तो आज विशेष आशिकों की महफिल में आये हैं। महफिल में मनाना होता है, सुनाना नहीं होता है। तो आज सुनाने नहीं आये हैं, मिलने और मनाने आये हैं। विशेष डबल विदेशी बच्चे आज का दिन मनाने के लिए आये हैं। नया वर्ष मनाने का संकल्प लेकर आये हैं। बापदादा भी नये वर्ष में स्नेह और सहयोग सम्पन्न बधाई दे रहे हैं। संगमयुग नया युग है। भविष्य सतयुग इस वर्तमान नये युग के नये जीवन की प्रालब्ध है। ब्राह्मणों के लिए नवयुग श्रेष्ठ युग अभी है। जब से ब्राह्मण बने नया युग, नया संसार, नया दिन, नयी रातें शुरू हो गई। इसी नये युग के नये जीवन की हर घड़ी पदमों तुल्य है। हीरे तुल्य है। सतयुग में यह गीत नहीं गायेंगे नया दिन लागे, नयी रात लागे। यह अब की बात है। बापदादा ने शुरू से किस गीत से बच्चों को जगाया है! वह गीत याद है? जाग सजनियाँ जाग…. क्यों जागो? नवयुग आया। बचपन का यही गीत है ना! अभी तो नये-नये गीत बना दिये हैं। आदि गीत बाप ने यही सुनाया ना। तो नवयुग कब हुआ? अब। पुराने के आगे नया लगता है ना! पुरानी दुनिया, पुरानी जीवन बदल गई। नयी जीवन में आ गये ना। बेहोश थे। अपना होश था कि मैं कौन हूँ? तो बेहोश हुए ना। बेहोश से होश में आये। नया जीवन अनुभव किया ना! ऑख खुलते नया सम्बन्ध, नया संसार देखा ना। तो नये युग की, नये युग में, नये वर्ष की बधाई।

लौकिक दुनिया में भी हैप्पी न्यू ईयर कहते हैं। वैसे एवर हैपी होते नहीं हैं लेकिन कहेंगे हैपी न्यू ईयर। अब आप सभी रीयल रूप में कहेंगे हैपी न्यू ईयर तो क्या लेकिन हैपी न्यू युग। सारा ही युग खुशी का युग है। हैपी न्यू ईयर कहते हो तो बधाई देने के समय क्या करते हो? पहले तो फारेन का रिवाज़ है – हाथ से हाथ जरूर मिलायेंगे। बापदादा हाथ से हाथ कैसे मिलाते? स्थूल हाथ तो एक सेकण्ड के लिए मिलाते हैं, लेकिन बापदादा सारा ही युग हाथ मिलाए अर्थात् एक ही श्रेष्ठ मत रूपी हाथ दे, हाथ में हाथ मिलाए अन्त में भी साथ में ले जाते हैं। श्रीमत का हाथ सदा आप सबके साथ है इसलिए सारा ही युग हाथ में हाथ देकर चलते हैं। हाथ में हाथ देकर चलना, यह स्नेह की भी निशानी है और सहयोग की भी निशानी है। कभी भी कोई चलते-चलते थक जाते हैं तो दूसरा उसका हाथ पकड़कर ले जाते हैं ना। रूहानी माशूक आशिकों का हाथ कभी नहीं छोड़ते। अन्त तक वायदा है हाथ और साथ सदा ही रहेगा। सभी आशिकों ने हाथ तो पक्का पकड़ लिया है ना! ढीला तो नहीं है! छोड़ने वाले तो नहीं हो ना! जो छोड़ते और लेते रहते हैं वह हाथ उठाओ। कभी छोड़ते, कभी पकड़ते ऐसा कोई है? यह विशेषता है इन्हों की, छिपाने वाले नहीं हैं। साफ बोलने वाले हैं इसलिए भी आधा विघ्न साफ सुनाने से खत्म हो जाता है। लेकिन कच्चा सौदा कब तक? पुराने वर्ष में पुरानी रीति रसम समाप्त करनी है ना! या नये वर्ष में भी यही रीति रसम चलेगी? अब तक जो हुआ उसको फुलस्टाप की बिन्दी लगाए, सदा साथ और हाथ रहने के स्मृति की बिन्दी अब से लगाओ। बड़े दिन वा खुशी के दिन पर विशेष सुहाग, भाग्य और बधाई की बिन्दी अर्थात् तिलक लगाते हैं। आप लोग भी विशेष याद की भट्ठी के दिन स्मृति की बिन्दी लगाते हो ना! क्यों लगाते हो! भट्ठी के दिन बिन्दी खास क्यों लगाते हो? दृढ़ संकल्प की निशानी बिन्दी लगाते हो कि आज का दिन सारा ही सहज योगी और श्रेष्ठ योगी के स्वरूप में रहेंगे। तो आज भी जो थोड़ा सा कच्चा हो, तो दृढ़ संकल्प द्वारा फुलस्टाप की बिन्दी लगाओ, दूसरी समर्थ स्वरूप की बिन्दी लगाओ। बिन्दी लगाने आती है? पाण्डवों को बिन्दी लगाने आती है? अच्छा शक्तियों को बिन्दी लगाने आती है? अविनाशी बिन्दी। आज सुबह भी सभी ने क्या वायदा किया? समारोह मनाना है ना? (मैरेज समारोह मनाना है) अभी मैरेज की नहीं है क्या? बाल बच्चे पैदा नहीं किये हैं? मैरेज तो हो गई है लेकिन मैरेज का दिन मनाने आये हो। जिसकी मैरेज नहीं हुई है, वह हाथ उठाओ। कितना भी नाज़ नखरे करो लेकिन माशुक छोड़ने वाला नहीं है क्योंकि जानते हैं कि छोड़कर जायेंगे कहाँ। जैसे आजकल विदेश का रिवाज है ना कि छोड़कर हिप्पी बन जाते हैं, तो हिप्पी बनना है क्या! एवर हैपी बनना है या हिप्पी बनना है? क्या हालत होती है, जो देख भी नहीं सकते। आप सब तो राज्य अधिकारी हो इसलिए बापदादा जानते हैं कि कभी-कभी नटखट बन जाते हैं। लेकिन बापदादा ने जो वायदा किया है कि साथ ले जायेंगे तो बाप वायदा नहीं छोड़ सकता इसलिए साथ चलना ही है। अच्छा!

नये वर्ष में नवीनता क्या करेंगे? कोई नई बात तो करेंगे ना। कोई प्लैन बनाया है? निमित्त टीचर ने कोई नया प्लैन बनाया है? गीता का भगवान तो देश में प्रत्यक्ष करेंगे। विदेश में क्या करेंगे? जो रही हुई बातें हैं, उन बातों को प्रैक्टिकल में लाना, यह तो बहुत अच्छी बात है। समय प्रमाण सब बातें प्रैक्टिकल होती जा रही हैं। इस बात से भारत में तो नगाड़ा बजायेंगे ही। धर्म नेताओं को जगायेंगे, हलचल भी मचायेंगे। जो थोड़ा-सा जागकर बहुत अच्छा कह फिर सो जाते हैं, उन्हों के लिए जैसे कोई नींद से नहीं उठता है तो उस पर ठण्डा-ठण्डा पानी डालते हैं। तो भारत वालों पर भी विशेष ठण्डा पानी डालने से जागेंगे। अच्छा – तो इस वर्ष क्या नवीनता करेंगे?

जितना लौकिक दुनिया में जिस स्थान पर हलचल हो, उसी हलचल के स्थान पर सदा खुशी की अचल स्थिति का झण्डा लहराना। गवर्मेन्ट हलचल में हो और गुप्त प्रभु रत्न सदा सम्पन्न सदा अचल का विशेष झण्डा लहरायें। गवर्मेन्ट का भी अटेन्शन हो जाए कि यह इस देश में गुप्त वेषधारी कौन-सी विचित्र आत्मायें हैं जो सारे देश में न्यारी और प्यारी हैं। जो अपने को धन से कमज़ोर समझते हैं उन्हों को अविनाशी धन से सम्पन्न कर, हम सबसे भरपूर हैं, हम सदा पद्मापद्मपति हैं, यह अनुभव कराओ। धन की गरीबी का दु:ख उन्हों को भूल जाए, ऐसी लहर फैलाओ। जो भी आवे वह समझे कि अखुट खज़ानों से भरपूर हो गये, और भी कोई धन होता है, वह अनुभव करें। और इसी धन द्वारा यह स्थूल धन भी स्वत: ही समीप आता है। दु:ख नहीं देगा। अच्छा! तो विदेश में नये वर्ष की नवीनता क्या करेंगे? सेन्टर्स तो खुलते जा रहे हैं और खुलते रहेंगे। अभी इस वर्ष विदेश में भी विशेष क्वालिटी की सर्विस विशेष रूप से होनी चाहिए। आप सबकी विशेष क्वालिटी तो रही लेकिन आप सभी क्वालिटी वाले और भी विशेष क्वालिटी वाली आत्मायें जो स्थापना के कार्य में सहयोगी बन जाएं, ऐसा विदेश में चारों ओर से एक ग्रुप तैयार करो जो ग्रुप मिलकर भारतवासियों की सेवा के अर्थ विशेष निमित्त बने। नामीग्रामी आवाज़ फैलाने वाले अलग ग्रुप हैं लेकिन यह हैं सम्बन्ध वाले, वह हैं सम्पर्क वाले। और यह ग्रुप चाहिए क्वालिटी वाला, जो समीप सम्बन्ध में हो। विशेष जीवन के परिवर्तन के अनुभवी हों, जिसके अनुभवों द्वारा और भी विशेष क्वालिटी वाली आत्मायें, वारिस क्वालिटी निकलती रहें। वह है सेवा के निमित्त ग्रुप और यह है वारिस क्वालिटी सेवाधारी ग्रुप। नागीग्रामी भी हो और वारिस भी हो। ऐसा ग्रुप विदेश में तैयार होने से देश में सेवा का चक्कर लगायें। राज नेता, धर्म नेता सर्व प्रकार की आत्माओं को अपने अनुभव की शक्ति द्वारा अनुभव करने की इच्छा उत्पन्न करा सकें। तो ऐसा चक्कर लगाने वाले वारिस सेवाधारी क्वालिटी का ग्रुप तैयार करो। समझा!

विदेश में चारों ओर आवाज फैलाने के साधन सहज हैं इसलिए विदेश में आवाज फैल भी रहा है और फैलता भी रहेगा। लेकिन भारत में आवाज फैलाने के साधन इतने सहज नहीं। भारतवासियों को जगाने के लिए पर्सनल सेवा चाहिए। और वह भी बहुत सिम्पल अनुभव के आवाज की सेवा हो। भारतवासी विशेष परिवर्तन के अनुभव से परिवर्तन होंगे। ऐसे विशेष अनुभवी जिन्हों के अनुभव में ऐसी शक्तिशाली परिवर्तन की बातें हो – ऐसी कहानियाँ सुन करके भारतवासी ज्यादा आकर्षित होंगे। भारत में कथा कहानियाँ सुनने का रिवाज है। समझा – विदेशियों को क्या करना है। इतनी सब टीचर्स आई हैं तो ऐस ग्रुप तैयार करके लाना। अच्छा!

नये वर्ष की विशेष सौगात बापदादा वरदान माला दे रहे हैं। सेरीमनी मनाते हैं तो वरमाला डालते हैं। बापदादा सभी आशिकों को वरदान माला की सौगात दे रहे हैं। सदा सन्तुष्टता से सन्तुष्ट रहो और सन्तुष्ट करो। हर संकल्प में विशेषता हो, हर बोल और कर्म में विशेषता हो। ऐसे विशेषता सम्पन्न सदा रहो। सदा सरल स्वभाव, सरल बोल, सरलता सम्पन्न कर्म हों। ऐसे सरल स्वरूप रहे। सदा एक की मत पर, एक से सर्व सम्बन्ध, एक से सर्व प्राप्ति ऐसे एक द्वारा सदा एक रस रहने के सहज अभ्यासी रहो। सदा खुश रहो, खुशी का खजाना बांटो। खुशी की लहर सर्व में फैलाओ। ऐसे सदा खुशी की मुस्कराहट चेहरे पर चमकती रहे। ऐसे हर्षित मुख रहो। सदा याद में रहो। वृद्धि को पाओ। ऐसे वरदान माला सदा साथ रहे। समझा। यह है नये वर्ष की सौगात। अच्छा!

ऐसे सदा के वरदानी, सदा हाथ और साथ के अमर श्रेष्ठ आत्मायें, हर संकल्प में नवीनता की विशेषता को जीवन में लाने वाले, ऐसी विशेष आत्माओं को, नव युग के, नये वर्ष की अमर याद-प्यार। उड़ती कला का याद-प्यार और नमस्ते।

पर्सनल मुलाकात:-

सदा अपने को पुण्य आत्मा समझते हो? सबसे बड़े ते बड़ा पुण्य है बाप को सन्देश दे बाप का बनाना। ऐसा श्रेष्ठ कर्म करने वाली पुण्य आत्मा हो क्योंकि अब की पुण्य आत्मा सदाकाल के लिए पूज्य बन जाती है। पुण्य आत्मा ही पूज्य आत्मा बनती है। अल्पकाल का पुण्य भी फल की प्राप्ति कराता है, वह है अल्प-काल का, यह है अविनाशी पुण्य क्योंकि अविनाशी बाप का बनाते हो। इसका फल भी अविनाशी मिलता है। जन्म-जन्म के लिए पूज्य आत्मा बन जायेंगे। तो सदा पुण्य आत्मा समझते हुए हर कर्म पुण्य का करते रहो। पाप का खाता खत्म। पिछला पाप का खाता भी खत्म क्योंकि पुण्य करते-करते पुण्य का तरफ ऊंचा हो जायेगा तो पाप नीचे दब जायेगा। पुण्य करते रहो तो पुण्य का बैलेन्स बढ़ जायेगा और पाप नीचे हो जायेगा अर्थात् खत्म हो जायेगा। सिर्फ चेक करो हर संकल्प पुण्य का संकल्प हुआ, हर बोल पुण्य के बोल हुए। व्यर्थ बोल भी नहीं। व्यर्थ से पाप नहीं कटेगा और पुण्य का फल भी नहीं मिलेगा इसलिए हर कर्म, हर बोल, हर संकल्प पुण्य का हो। ऐसे सदा श्रेष्ठ पुण्य का कर्म करने वाली पुण्य आत्मा हैं, यही सदा याद रखो। संगमयुगी ब्राह्मणों का काम ही क्या है? पुण्य करना और जितना पुण्य का काम करते हो उतना खुशी भी होती है। चलते-फिरते किसको सन्देश देते हो तो उसकी खुशी कितना समय रहती है। तो पुण्य कर्म सदा खुशी का खजाना बढ़ाता है और पाप कर्म खुशी गँवाता है। अगर कभी खुशी गुम होती है तो समझो कोई न कोई बड़ा पाप नहीं तो छोटा अंश मात्र भी जरूर किया होगा। देह-अभिमान में आना यह भी पाप है ना क्योंकि बाप याद नहीं रहा तो पाप ही होगा ना इसलिए सदा पुण्य आत्मा भव। अच्छा।

रात्रि 12 बजे के बाद सभी बच्चों को बधाई

चारों ओर के स्नेही सिकीलधे सदा सेवाधारी बच्चों को सदा नये उमंग, नये उत्साह भरे जीवन की, नये वर्ष की बधाई हो। संगमयुग नवयुग, जिसमें हर घड़ी नई हो, हर संकल्प नये ते नया उमंग उत्साह दिलाता है। ऐसे युग में नये वर्ष की मुबारक तो सदा बापदादा देते ही हैं फिर भी विशेष दिन पर विशेष याद दे रहे हैं कि सदैव स्वयं भी नये सेवा में स्वयं के प्रति प्लैन बनाते हुए प्रैक्टिकल में लाते रहो और दूसरों को भी अपने नवीन जीवन से प्रेरणा देते रहो। लण्डन निवासी वा जो भी विदेश में हैं, सभी के याद प्यार और हैपी न्यू ईयर के कार्ड भी पाये, बहुत-बहुत पत्र भी पाये, छोटी बड़ी सौगातें भी पाई। बापदादा ऐसे नये युग में श्रेष्ठ कर्म करने वाले और नया युग रचने वाले बच्चों को विशेष वरदानों सहित नये वर्ष की बधाई दे रहे हैं। सभी बहुत अच्छे मुहब्बत और मेहनत से सेवा कर रहे हैं और सदा ही सेवा में बिजी रह औरों को भी सेवा द्वारा बाप के वर्से का अधिकारी बनाते हैं। अच्छा! देश-विदेश के सभी बच्चों को फिर भी बार-बार शुभ बधाईयों से याद-प्यार।

वरदान:- अपने बचे हुए तन-मन-धन को ईश्वरीय कार्य में लगाकर जमा करने वाले सदा सहयोगी भव 
यादगार में जो गोवर्धन पर्वत को उठाने में हर एक की अंगुली दिखाई है – यह आपके सहयोग की निशानी है। चित्र में बाप का साथ भी दिखाते हैं तो सेवा भी दिखाते हैं। अभी आप बच्चे बापदादा के सहयोगी बने हो तब यादगार बना है। भक्ति में तो तन-मन-धन जो कुछ लगाया उसमें 99 परसेन्ट गंवा दिया। बाकी जो 1 परसेन्ट बचा है उसे अब सच्ची दिल से ईश्वरीय कार्य में लगाओ तो फिर से पदमगुणा जमा हो जायेगा।
स्लोगन:- जो निर्मान बनते हैं उन्हें स्वत: सर्व का मान प्राप्त होता है।

TODAY MURLI 26 August 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 26 August 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 25 August 2017 :- Click Here

26/08/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the sweet Father has come to remove you from this bitter world and to make you sweet. Therefore, become very, very sweet.
Question: Why do you children dislike this old world?
Answer: Because this world has become the extreme depths of hell. Everyone within it is bitter. Impure ones are called bitter; they are all floundering in the river of poison. This is why you dislike it.
Question: People make two mistakes in one of the questions they ask. What is the question and what are the mistakes?
Answer: People ask: How can my mind become peaceful? This is the first mistake because until a soul becomes separated from his body, how could he receive peace? The second mistake they make is when they say that God has many forms and is omnipresent. If God is omnipresent, then who is it that needs peace and who can give it?

Om shanti. You children understand that Baba has come from the land of peace and is asking you children what you are thinking about. You know that the Father has come from the sweet home, the land of peace, in order to take us to the land of happiness. The Father asks: Are you now remembering your sweet home, or are you remembering something else. This world is not sweet; in fact it is very bitter. Bitter things cause sorrow. You children know that we are now going to our sweet home. Our unlimited Father is very sweet. All other fathers who exist at this time are very bitter, impure and dirty. That One is the unlimited Father of all. Now, whose directions do you have to follow? The unlimited Father says: Children, now remember your land of peace and, along with that, remember your land of happiness. Forget this land of sorrow. This world has been given very harsh names: extreme depths of hell, hell in which the river of poison flows. The Father explains that this whole world is the river of poison. Everyone experiences sorrow at this time which is why they dislike it. It is a very dirty world. Therefore, you should have disinterest in it. Sannyasis too have disinterest in their households. They consider a woman to be a serpent and that to live in a home is like living in hell and choking. Saying this, they renounce it. In fact, both are doorways to hell. They don’t like living in a household and so they go to a jungle. You live in your households; you don’t renounce them. You understand this through knowledge. The Father explains to you children that this is the river of poison. Everyone continues to become corrupt. Baba will now take you children to the land of peace. From there, He will send you to the land of the ocean of milk. He enables you to have disinterest in this whole world because there is no peace in this world. Human beings continue to beat their heads so much for peace. Sannyasis etc., whoever comes, ask for peace of mind or say that they want to go to the land of liberation. Just look at the questions they ask! One’s mind cannot receive peace until the soul becomes separated from the body. Firstly, they say that God is omnipresent or that we are all forms of God. In that case, why do they ask these questions? Why would God need peace? The Father explains that peace is the garland around your neck. You say: We want peace. First of all, tell us who you are. The soul has forgotten his original religion and place of residence. The Father says: You souls are embodiments of peace. You are residents of the land of peace. You have forgotten your sweet home and your sweet Father. There is only one God: there are countless devotees. Devotees are devotees; how can they be called God? Devotees make spiritual endeavour and pray: O God! However, they don’t know God. That is why they have become unhappy. You have now understood that we were originally residents of the land of peace and that we went to the land of happiness and then into the kingdom of Ravan. You are the ones who play all  round part s. First of all, you were in the golden age. Bharat was the land of happiness; it is now the land of sorrow. You souls reside in the land of peace and the Father also resides there. His praise is: The Purifier and the Ocean of Knowledge. He purifies you with knowledge. He is the Ocean of Knowledge, which is why they call out to Him. This proves that there is no knowledge here. It is only when the Ocean of Knowledge comes that you rivers of knowledge emerge and are therefore able to bathe in knowledge. Only the one Supreme Father, the Supreme Soul, is called the Ocean of Knowledge. Only when He comes and creates children are they able to receive knowledge and salvation. Devotion begins when Ravan’s kingdom begins, that is, you become worshippers. You are again becoming worthy of worship. Pure ones are called worthy of worship whereas impure ones are called worshippers. People bow their heads in front of sannyasis and offer them flowers. They consider them to be pure and themselves to be impure. The Father says: No one in this world can be pure. This is the river of poison. The land of Vishnu is called the ocean of milk where you rule the kingdom. The Father says: Children, consider yourselves to be souls and remember your sweet home. You definitely have to perform actions. Men have to look after their businesses and mothers have to look after their households. You forget. This is why the time of amrit vela is very good. Sit in remembrance at that time. Amrit vela is the best time because both are free. In fact you also get time in the evening, but some of you are tired at that time. Achcha, go and rest and wake up in the morning and have remembrance. The Father of us souls has come to take us back. The part of 84 births is now complete. You should continue to think in this way. The best time for you to earn an income is in the morning. The income you earn now will be of use to you in the golden age. You are now claiming your inheritance from the Father. There, there are no financial difficulties; there are no worries there. The Father fills your aprons to such an extent that you don’t need to worry about earning an income. Here, human beings have so many worries about earning an income. Baba frees you from worrying for 21 births. Therefore, wake up early in the morning and talk to yourself in this way. We souls are residents of the supreme abode (paramdham); we are children of the Father. First, we enter the golden age. We take our inheritance from the Father. The Father says: Five thousand years ago, when Bharat was heaven, you were extremely wealthy. Now it is hell, the land of sorrow. Only the one Father becomes the Bestower of Salvation for all. You should remind each other. The golden age existed in Bharat alone. It was called heaven, liberation-in-life. Hell is called bondage in life. There was first the sun-dynasty kingdom, then the moon-dynasty kingdom and then the merchant and shudra-dynasty kingdoms. Because of having devilish intellects, human beings continue to cause each other sorrow. Every physical father becomes a servant of his children. They indulge in vice and create children. They take care of them and then push them into hell. When they begin to flounder in the river of poison, their father becomes happy. Therefore, they are innocent. This Father from beyond is also innocent; He is the Servant of the children. That worldly father pushes his children into hell whereas this One takes you to heaven, the land of peace. He does make effort. How innocent is He? He has left His supreme abode and come. He sees to what extent souls have become degraded. They continue to insult Me. They don’t even know Me. They also continue to insult My chariot. They have made many false allegations. They also accuse you. Krishna too has also been accused. However, no one can accuse Krishna when he is beautiful. It is only when he becomes ugly that he is accused. The one who was beautiful became ugly. That is why he is accused. Beautiful ones cannot be accused. When souls become impure from pure, they are insulted. This drama is preordained. Poor human beings don’t understand anything. Many become confused and say that they don’t know what type of knowledge this is; that these things are not mentioned in the scriptures. They have forgotten what the mothers of Bharat, the Shiv Shakti Army, did. The World Mother (Jagadamba) is called a Shiv Shakti. There are many temples built to her. There is also the Dilwala Temple. There is only the one Shiv Baba who wins hearts. There is Brahma, then Jagadamba and also you kumaris. There are also maharathis. You are identical to those in a practical way. That non-living memorial of yours (Dilwala Temple) exists for a long time; it will be destroyed and you will go to the golden age. There, there are no memorials etc. You were sitting like this exactly 5000 years ago and your memorial was later created. You ruled your kingdom in the golden and silver ages. Later, those memorials are created on the path of devotion for worshipping. You have also come to know Brahma, Vishnu and Shankar. Vishnu becomes Brahma and Brahma becomes Vishnu; that takes 84 births. You are now making effort again. You should follow Mama and Baba. You will become beautiful to the extent that you make effort. The Father is teaching you an easy way to become pure from impure. If you continue to remember the Father and the sweet home, you will become the masters of heaven. You should instil the habit of waking up in the morning and having remembrance. When this becomes firm, you will automatically have remembrance while walking and moving around. We only want to remember our sweet home and our sweet kingdom. First we become satopradhan and then we become sato, rajo and tamo. There cannot be any doubt about this, so there is no need to be confused. You have to remain pure. The diet of the deities is very pure. We too have to take precautions with food. There is no need to ask questions about this. The intellect first of all understands that lust is very bad. Secondly, you should not eat meat or drink alcohol. Impure ones find it difficult to eat food without onions or garlic. The Father explains that you will never get pure food from anyone apart from Brahmins. You have to stay in remembrance of the Father. The more you stay in remembrance, the purer you will become. Your intellects have to understand how you can save yourselves and with what method. You have to make your intellects work. You also have to remain in your households. Therefore, you have to have a relationship with your worldly family. You have to benefit them too. You also have to relate these things to them. The Father says: Become pure! Otherwise, you will endure a great deal of punishment and your status will become degraded. The rosary is made of those who pass with honours. It is now time of settlement; everyone’s karmic accounts of sin will be settled. Baba has explained that it is only by having remembrance that your sins will be absolved. This takes effort.

[wp_ad_camp_5]

 

Knowledge is very easy. The whole drama and the tree enter your intellects. However, you have to remember the sweetFather, the sweet kingdom and the sweet home. The play is now about to end and we have to return home. All have to shed their old bodies and return. Remember this firmly. You souls will shed your bodies while staying in remembrance in this way and you souls will go back. It is very easy. You children are now listening personally and others will hear on tapes. One day, people will definitely see and hear this knowledge on television. Everything will happen. It will become easy for those who come later on. Children who maintain courage receive help from the Father. This will also be arranged. There will also be those who do good service. There will be all these facilities for the children’s progress. Whoever wants to can take it. Just remember the one Father. Those of Islam also go around early in the morning and wake everyone up: “Wake up and remember Allah. This time is not for sleeping.” In fact, this refers to the present time. Remember Allah, because you receive the sovereignty of the kingdom of Paradise. Paradise is called the garden of flowers. They just sing that. You are becoming deities in a practical way by remembering the Father. The practice of waking up in the morning is very good. The atmosphere in the morning is very good. The morning begins after midnight. From two to three am is called the early morning hours of nectar. You should wake up early and remember the land of peace and the land of happiness. Achcha.

To the sweetest, beloved long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Stay in remembrance of the Father and eat pure food. Take great precautions about anything impure. Follow Mama and Baba and make effort to become pure.
  2. Wake up early in the morning and remember the sweet Father and the sweet kingdom. Settle all your karmic accounts at this time of settlement with remembrance of the Father.
Blessing: May you do combined service by having the awareness of the combined form and thereby become an embodiment of success.
Just as the soul and the body are combined and the future Vishnu form is combined¸in the same way, “The Father and I, the soul, are combined”. When you maintain the awareness of this form and do self-service together with service of all souls, you will then become an embodiment of success. Never say that you were very busy in service and that was why you were slack in your chart of self-service. Let it not be that you go to do service and that when you come back, you say that Maya came to you or that you had an “off-mood” or were disturbed. The way to expand service is to remain combined in serving the self and serving everyone.
Slogan: To be ignorant of limited desires is to be greatly wealthy.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

Read Bk Murli 24 August 2017 :- Click Here

 

Brahma kumaris murli 26 August 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 29 August 2017

September 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 29 August 2017 :- Click Here
BK murli today ~ 30/08/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली
30/08/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
”मीठे बच्चे – बाप का फरमान है देही-अभिमानी बनो, पवित्र बनकर सबको पवित्र बनाओ, निश्चयबुद्धि बन बाप से पूरा वर्सा लो”
प्रश्नः- अन्त में शरीर छोड़ने समय हाय-हाय किन्हों को करनी पड़ती है?
उत्तर:- जो जीते जी मरकर पूरा पुरूषार्थ नहीं करते हैं, पूरा वर्सा नहीं लेते हैं, उन्हें ही अन्त में हाय-हाय करनी पड़ती है।
प्रश्नः- इस समय अनेक प्रकार के लड़ाई-झगड़े वा पार्टीशन आदि क्यों हैं?
उत्तर:- क्योंकि सब अपने असली पिता को भूल आरफन, निधनके बन गये हैं। जिस मात-पिता से घनेरे सुख मिले थे, उसे भूल सर्वव्यापी कह दिया है, इसलिए आपस में लड़ते-झगड़ते रहते हैं।
गीत:- ओम् नमो शिवाए….

ओम् शान्ति। यह किसने कहा? ओम् शान्ति। आत्मा ने इन शरीर की कर्मेन्द्रियों द्वारा कहा। आत्मा है अविनाशी, शरीर है विनाशी। आत्मा एक शरीर छोड़ दूसरा लेती है। आत्मा सबसे जास्ती 84 जन्म लेती है। इनको कहा ही जाता है 84 जन्मों का पा। ऐसे नहीं सभी 84 जन्म लेते हैं। नहीं, मनुष्य तो इन बातों को नहीं जानते हैं। गीत में भी सुना शिवाए नम:, ऊंच ते ऊंच है शिव परमात्मा। वह है निराकारी दुनिया का रहने वाला, जहाँ सब आत्मायें रहती हैं। उनसे नीचे सूक्ष्मवतनवासी। ऊंचे ते ऊंचे भगवान की महिमा सुनी शिवाए नम:। तुम मात-पिता, बन्धु सहायक, यह उनकी महिमा है। फिर कहेंगे-ब्रह्मा देवताए नम:… वह रचयिता, वह रचना। फिर है यह मनुष्य सृष्टि। इस मनुष्य सृष्टि में ही पावन और पतित बनते हैं। सतयुग में पावन, कलियुग में पतित हैं। भारत में आज से 5 हजार वर्ष पहले देवी-देवता थे। वह सब थे मनुष्य, परन्तु सर्वगुण सम्पन्न 16 कला सम्पूर्ण थे। यह है उन्हों की महिमा। वहाँ हिंसा होती नहीं। विकार में जाते नहीं। उन्हों को कहते हैं सम्पूर्ण निर्विकारी। विकारी मनुष्य उन्हों की महिमा गाते हैं। आप सर्वगुण सम्पन्न, हम नीच पापी हैं। परमात्मा को भी याद करते हैं परन्तु उनको कोई जानते नहीं हैं इसलिए आरफन ठहरे। गाते भी हैं – तुम मात-पिता… जिससे सुख घनेरे मिलते हैं। फिर जब रावण राज्य शुरू होता है तो मनुष्य बाप को भूल पतित आरफन निधनके बन पड़ते हैं। आपस में लड़ते झगड़ते रहते हैं। सब जगह देखो झगड़े ही झगड़े लगे हुए हैं। कितने पार्टीशन हैं। स्वर्ग में तो एक ही लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। भारतवासी सारे विश्व के मालिक थे। अब तो टुकड़े-टुकड़े हैं। यह समुद्र तुम्हारा, यह हमारा, यह धरती हमारी, यह तुम्हारी… पंजाब, यू.पी., राजस्थान आदि-आदि, अलग-अलग हो गये हैं। भाषा पर भी कितने झगड़े होते हैं क्योंकि पारलौकिक माँ बाप को नहीं जानते हैं। भारत स्वर्ग था तो यह कोई बात नहीं थी। अब फिर स्वर्ग होना है। बाप बैठ समझाते हैं यह सृष्टि का चक्र कैसे फिरता है। बेहद का बाप बच्चों को कहते हैं तुम कितना बेसमझ बन पड़े हो। कहते भी हो हे परमपिता परमात्मा। फिर उनकी बायोग्राफी को नहीं जानते हो। बाप पतित-पावन, सद्गति दाता भी है। तुम तो जानते हो, वह तो कह देते हैं ईश्वर सर्वव्यापी है। सर्वव्यापी कहने से फिर वर्सा कैसे मिलेगा। जरूर बाप चाहिए ना, वर्सा देने वाला। लौकिक बाप बच्चों को पैदा करे और फिर पूछो तुम्हारा बाप कहाँ है तो क्या सर्वव्यापी कहेगा? अरे बेहद का बाप तो रचयिता है ना। उसको ही सब भगत पुकारते हैं – हे पतित-पावन, शिवबाबा आकर हमको पतित से पावन बनाओ। जैसे स्वर्ग में पावन थे वैसे फिर हमको आकर पावन बनाओ। हम बहुत दु:खी हैं। जबसे रावण राज्य शुरू होता है तो सब मनुष्य पतित होने लग पड़ते हैं। दर दर धक्के खाते रहते हैं। समझते हैं सबमें परमात्मा है। मूर्तियां ठिक्कर-भित्तर की बनी हुई है ना, तो समझते हैं कि इसमें भी भगवान है। अरे पत्थर में भगवान कहाँ से आया! वह तो परमधाम में रहता है। कितने ढेर चित्र बनाते हैं फिर जब पुराने हो जाते हैं तो फेंक देते हैं। यह है गुड़ियों की पूजा। कहते हैं हे बाबा हमको सद्गति दो। सर्व का सद्गति दाता एक ही पतित-पावन शिवबाबा है, उनको सब मनुष्य भूल गये हैं। उनको सब याद करते हैं। सबका पतियों का पति अथवा बापों का बाप वह है। बाप कहते हैं बच्चे अब पावन बनो। तुम्हारी आत्मा अब पतित हो गयी है, खाद पड़ गई है। सच्चे सोने में खाद डालने से अथवा अलाए पड़ने से सोने का मूल्य कम हो जाता है। तो यह भी तमोप्रधान दुनिया है। पहले गोल्डन एज में थे तो सम्पूर्ण निर्विकारी थे। फिर सिल्वर की खाद पड़ी फिर कापर, आइरन में आते हैं। आत्मा पतित होती जाती है। अभी तो बिल्कुल ही आइरन एजड हो गई है। वही भारत सतोप्रधान था, अब तमोप्रधान बन गया है। जो पहले-पहले थे जरूर उन्हों को ही पूरे 84 जन्म लेने पड़े। क्रिश्चियन आते ही बाद में हैं, वह 84 जन्म तो ले न सकें। वह 35-40 जन्म करके पाते होंगे। सृष्टि की आयु भी अब पूरी होती है फिर नई बनेगी। नई दुनिया में है सुख, पुरानी दुनिया में है दु:ख। पुराने मकान को तोड़ा जाता है ना। पुरानी दुनिया में तो सब दु:खी हैं। फिर इन सबको सुखी बनाने वाला तो बाप ही है। सतयुग में जो भी आत्मायें थी वह सुखी थी। बाकी सब आत्मायें शान्तिधाम में थी, जिसको फिर साइलेन्स वर्ल्ड कहा जाता है। साइलेन्स वर्ल्ड फिर सटल वर्ल्ड (सूक्ष्मवतन), वहाँ शरीर ही नहीं है तो आत्मा आवाज कैसे करेगी। तो अभी सब आत्मायें तमोप्रधान हैं इसलिए इसको आइरन एज कहा जाता है। पहले गोल्डन एज में थे अब फिर बाप आकर गोल्डन एज में ले जाते हैं। मनुष्य को देवता बनाते हैं। सतयुग में स्त्री पुरूष दोनों पवित्र रहते हैं। उनको रामराज्य कहा जाता है। अभी तो है रावणराज्य, एक दो पर काम कटारी चलाकर दु:खी करते रहते हैं। भगवान कहते हैं बच्चे काम महाशत्रु है, इसने ही तुमको दु:खी किया है। तुम बच्चे गिरते आये हो। अभी तो कोई कला नहीं रही है फिर 16 कला सम्पूर्ण बनाने बाप आये हैं। इसमें सन्यासियों के मुआफिक घरबार तो छोड़ना नहीं है। पावन दुनिया में जाने के लिए यह अन्तिम जन्म तुमको पवित्र जरूर बनना है। जो बाप द्वारा पवित्र बनेंगे वही पवित्र दुनिया के मालिक बनेंगे। यहाँ तुम बच्चे आये हो बाप के पास। यह हेड आफिस है – जहाँ सब आते हैं। पारलौकिक बाप आत्माओं को कहते हैं बच्चे, अब देही-अभिमानी बनो। आत्मायें भी कहती हैं हाँ बाबा हम आपका फरमान जरूर मानेंगे। पवित्र बनेंगे। यह श्रीमत है ना। श्रीमत से ही श्रेष्ठ बनना है। रावण की मत से तुम भ्रष्ट बने हो। तो इस शरीर द्वारा आत्मा कहती है हे बाबा हम आपके बने हैं। बाप कहते हैं मैं आया ही हूँ सर्व की सद्गति करने। पाप आत्मा से पुण्य आत्मा बनाने के लिए। तो पवित्र जरूर बनना है। पहले जब पवित्र बन ब्रह्माकुमार कुमारी बनें तब ही शिवबाबा से स्वर्ग के सुख का वर्सा पायें। तुम फिर से आये हो – बाप से वर्सा लेने। तुम जो देवी-देवता धर्म के थे, तुमने ही 84 जन्म लिये हैं। अभी वह देवी-देवता हैं नहीं। देवतायें जो पतित बने हैं वही आकर पावन बनेंगे। जो आये ही बाद में हैं वह स्वर्ग में जा न सकें। जिन देवी-देवता धर्म वालों के 84 जन्म पूरे हुए हैं, उन्हों को ही फिर से देवता बनना है। बाबा कहते हैं मैं ही आकर ब्रह्मा द्वारा देवी-देवता बनाता हूँ। पवित्र बनने बिगर तुम देवी-देवता बन नहीं सकते हो। इन बातों को समझेंगे वही जो आकर ब्रह्माकुमार कुमारी बनेंगे। प्रजापिता गाया जाता है ना। मनुष्य सृष्टि का जगत पिता और जगत अम्बा। उन्हों के इतने बच्चे कैसे होंगे। अभी है ब्रह्मा मुख वंशावली। सब मम्मा बाबा कहते हैं। कैसे बच्चे बने? शिवबाबा ने ब्रह्मा द्वारा तुमको अपना बनाया है। तुम शिवबाबा को याद करते हो, उससे स्वर्ग का वर्सा लेने। तो सब ब्रह्माकुमार कुमारियां आपस में भाई बहन ठहरे। यह है युक्ति। बाबा कहते हैं तुम गृहस्थ व्यवहार में भल रहो परन्तु कमल फूल समान पवित्र रहो। यह करके दिखाओ, घरबार छोड़ने की बात नहीं है। अपनी रचना की सम्भाल भी करो, सिर्फ पवित्र रहो तो इन देवताओं जैसा फिर बनेंगे। देवी-देवता धर्म की स्थापना तो जरूर होनी है। बाप बच्चों को सम्मुख बैठ समझाते हैं।

यह मधुबन है हेड आफिस। कितने सेन्टर्स खुलते रहते हैं। जो कल्प पहले ब्रह्माकुमार कुमारियां बने थे वही फिर ब्राह्मण से देवता फिर क्षत्रिय, वैश्य, शुद्र बनते आये हैं। अब फिर ब्राह्मण बनना पड़े। चोटी ब्राह्मणों की है ना। इन वर्णों से पास करना होता है। बाप कहते हैं तुम सो देवी-देवता थे। अब तुम फिर शूद्र से ब्राह्मण बने हो, सो देवी-देवता बनने के लिए। तुम पवित्र बनते हो। गायन भी है कुमारी वह जो 21 पीढ़ी का उद्धार करे। तुम सब ब्रह्माकुमार कुमारियां हो। कुमार और कुमारियां तो दोनों चाहिए ना। तुम हर एक को 21 पीढ़ी के लिए सदा सुख का रास्ता बताते हो। चलो अपने सुखधाम, यह है दु:खधाम। अभी बाप को याद करना है। बाप कहते हैं पवित्र बनो और मामेकम् याद करो। कोई भी देहधारी को याद नहीं करो। बाप ही बैठ बच्चों को सुख घनेरे देते हैं। अभी कितना दु:ख है। दु:ख में ही भगवान को याद किया जाता है। बाप स्वर्ग में ले जाते फिर वहाँ क्यों याद करेंगे। कहते हैं हे प्रभू, अन्धों की लाठी। परन्तु जानते तो कुछ भी नहीं। लक्ष्मी-नारायण के आगे भी जाकर कहेंगे – तुम मात-पिता…अब वह तो हैं स्वर्ग के मालिक। वह थोड़ेही सबके मात-पिता हो सकते हैं। कृष्ण एक राजधानी का, राधे दूसरे राजधानी की। फिर उनकी सगाई हो जाती है। स्वयंवर के बाद फिर नाम बदल जाता है। विष्णु के दो रूप लक्ष्मी-नारायण बनते हैं। दीपमाला पर महालक्ष्मी को बुलाते हैं ना। वह है युगल। अभी तुम काम चिता से उतर ज्ञान चिता पर बैठते हो। तुम हो सच्चे ब्राह्मण। तुम पवित्रता की प्रतिज्ञा कराते हो। बेहद का बाप कहते हैं पवित्र बनो तो पवित्र दुनिया के मालिक बनेंगे। घर बैठे भी याद कर सकते हो।

[wp_ad_camp_5]

 

बाबा कहते हैं तुम सबको मेरे पास आना है। मरना तो सबको है। यह वही महाभारत की लड़ाई है। यहाँ है यौवनों की लड़ाई। सतयुग में कोई लड़ाई आदि होती नहीं। बाप कहते हैं तुम इस रावण पर जीत पहनो। बाकी लड़ाई आदि की कोई बात नहीं। यह महाभारत की लड़ाई भी लगती है। बाकी थोड़े बचेंगे। भारत है अविनाशी खण्ड, बाकी खण्ड खत्म हो जायेंगे। बाप सबको वापिस ले जायेंगे। बाप सर्व की सद्गति करते हैं। आत्माओं को वापिस ले जाते हैं। अभी तुम बाप से वर्सा ले रहे हो। सन्यासी तो दे न सकें। वह कोई स्वर्ग का रचयिता थोड़ेही हैं। अभी स्वर्ग की स्थापना हो रही है। बाकी नर्क के मनुष्यमात्र सब खत्म हो जायेंगे। मरना तो है, क्यों न जीते जी वर्सा ले लेवें। नहीं तो हाय-हाय करेंगे। कुम्भकरण की आसुरी नींद से अन्त में जागेंगे। अभी सारे चक्र की नॉलेज तुम्हारी बुद्धि में है। तुम ही पूज्य थे फिर पुजारी बने फिर पूज्य बनते हैं। पावन राजायें भी थे, पतित राजायें भी थे। अब नो राजा। प्रजा का प्रजा पर राज्य है। फिर सृष्टि को चक्र खाना है, सतयुग में आना है। शिवबाबा इनके मुख से कहते हैं – तुम हमारे बच्चे हो। तुम भी कहते हो बाबा हम आपके बच्चे हैं। यह है मुख वंशावली। तुम ईश्वर का परिवार हो। भगवानुवाच एक बाप को याद करो। हम आत्मायें अब स्वीट होम में जाती हैं, जहाँ बाबा रहते हैं। फिर बाबा स्वीट स्वर्ग में भेज देते हैं, वहाँ भी शान्ति और सुख है। तुम यहाँ आये हो पवित्रता, सुख, शान्ति का वर्सा लेने। 21 जन्मों के लिए यह पढ़ाई है। तुम यहाँ के लिए नहीं पढ़ते हो। यह है ही मृत्युलोक। तुम अमरनाथ द्वारा अमरकथा सुन अमर बनते हो। जो बाप से आकर समझेंगे वही पवित्रता की प्रतिज्ञा करेंगे। वही फिर आकर वर्सा लेंगे। ब्रह्माकुमार कुमारियां तो ढेर के ढेर होते जायेंगे। दिन प्रतिदिन सेन्टर खुलते जायेंगे। शूद्र से ब्राह्मण बनते जायेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप से स्वर्ग का वर्सा लेने के लिए गृहस्थ व्यवहार में रहते, रचना की सम्भाल करते हुए कमल फूल समान पवित्र बनना है।

2) हर एक को 21 पीढ़ी के लिए सुखी बनाने का रास्ता बताना है। ज्ञान चिता पर बैठ शूद्र से ब्राह्मण और फिर देवता बनना है।

वरदान:- अपनी शक्तिशाली मन्सा शक्ति व शुभ भावना द्वारा बेहद सेवा करने वाले विश्व परिवर्तक भव 
विश्व परिवर्तन के लिए सूक्ष्म शक्तिशाली स्थिति वाली आत्मायें चाहिए, जो अपनी वृत्ति द्वारा श्रेष्ठ संकल्प द्वारा अनेक आत्माओं को परिवर्तन कर सकें। बेहद की सेवा शक्तिशाली मन्सा शक्ति द्वारा, शुभ भावना और शुभ कामना द्वारा होती है। तो सिर्फ स्वयं के प्रति भावुक नहीं लेकिन औरों को भी शुभ भावना, शुभ कामना द्वारा परिवर्तित करो। बेहद की सेवा वा विश्व प्रति सेवा बैलेन्स वाली आत्मायें कर सकती हैं। तो भावना और ज्ञान, स्नेह और योग के बैलेन्स द्वारा विश्व परिवर्तक बनो।
स्लोगन:- बुद्धि रूपी हाथ बापदादा के हाथ में दे दो तो परीक्षाओं रूपी सागर में हिलेंगे नहीं।
[wp_ad_camp_5]
To Read Murli 28 August 2017 :- Click Here
Font Resize