26 august 2017

TODAY MURLI 26 August 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 26 August 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 25 August 2017 :- Click Here

26/08/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the sweet Father has come to remove you from this bitter world and to make you sweet. Therefore, become very, very sweet.
Question: Why do you children dislike this old world?
Answer: Because this world has become the extreme depths of hell. Everyone within it is bitter. Impure ones are called bitter; they are all floundering in the river of poison. This is why you dislike it.
Question: People make two mistakes in one of the questions they ask. What is the question and what are the mistakes?
Answer: People ask: How can my mind become peaceful? This is the first mistake because until a soul becomes separated from his body, how could he receive peace? The second mistake they make is when they say that God has many forms and is omnipresent. If God is omnipresent, then who is it that needs peace and who can give it?

Om shanti. You children understand that Baba has come from the land of peace and is asking you children what you are thinking about. You know that the Father has come from the sweet home, the land of peace, in order to take us to the land of happiness. The Father asks: Are you now remembering your sweet home, or are you remembering something else. This world is not sweet; in fact it is very bitter. Bitter things cause sorrow. You children know that we are now going to our sweet home. Our unlimited Father is very sweet. All other fathers who exist at this time are very bitter, impure and dirty. That One is the unlimited Father of all. Now, whose directions do you have to follow? The unlimited Father says: Children, now remember your land of peace and, along with that, remember your land of happiness. Forget this land of sorrow. This world has been given very harsh names: extreme depths of hell, hell in which the river of poison flows. The Father explains that this whole world is the river of poison. Everyone experiences sorrow at this time which is why they dislike it. It is a very dirty world. Therefore, you should have disinterest in it. Sannyasis too have disinterest in their households. They consider a woman to be a serpent and that to live in a home is like living in hell and choking. Saying this, they renounce it. In fact, both are doorways to hell. They don’t like living in a household and so they go to a jungle. You live in your households; you don’t renounce them. You understand this through knowledge. The Father explains to you children that this is the river of poison. Everyone continues to become corrupt. Baba will now take you children to the land of peace. From there, He will send you to the land of the ocean of milk. He enables you to have disinterest in this whole world because there is no peace in this world. Human beings continue to beat their heads so much for peace. Sannyasis etc., whoever comes, ask for peace of mind or say that they want to go to the land of liberation. Just look at the questions they ask! One’s mind cannot receive peace until the soul becomes separated from the body. Firstly, they say that God is omnipresent or that we are all forms of God. In that case, why do they ask these questions? Why would God need peace? The Father explains that peace is the garland around your neck. You say: We want peace. First of all, tell us who you are. The soul has forgotten his original religion and place of residence. The Father says: You souls are embodiments of peace. You are residents of the land of peace. You have forgotten your sweet home and your sweet Father. There is only one God: there are countless devotees. Devotees are devotees; how can they be called God? Devotees make spiritual endeavour and pray: O God! However, they don’t know God. That is why they have become unhappy. You have now understood that we were originally residents of the land of peace and that we went to the land of happiness and then into the kingdom of Ravan. You are the ones who play all  round part s. First of all, you were in the golden age. Bharat was the land of happiness; it is now the land of sorrow. You souls reside in the land of peace and the Father also resides there. His praise is: The Purifier and the Ocean of Knowledge. He purifies you with knowledge. He is the Ocean of Knowledge, which is why they call out to Him. This proves that there is no knowledge here. It is only when the Ocean of Knowledge comes that you rivers of knowledge emerge and are therefore able to bathe in knowledge. Only the one Supreme Father, the Supreme Soul, is called the Ocean of Knowledge. Only when He comes and creates children are they able to receive knowledge and salvation. Devotion begins when Ravan’s kingdom begins, that is, you become worshippers. You are again becoming worthy of worship. Pure ones are called worthy of worship whereas impure ones are called worshippers. People bow their heads in front of sannyasis and offer them flowers. They consider them to be pure and themselves to be impure. The Father says: No one in this world can be pure. This is the river of poison. The land of Vishnu is called the ocean of milk where you rule the kingdom. The Father says: Children, consider yourselves to be souls and remember your sweet home. You definitely have to perform actions. Men have to look after their businesses and mothers have to look after their households. You forget. This is why the time of amrit vela is very good. Sit in remembrance at that time. Amrit vela is the best time because both are free. In fact you also get time in the evening, but some of you are tired at that time. Achcha, go and rest and wake up in the morning and have remembrance. The Father of us souls has come to take us back. The part of 84 births is now complete. You should continue to think in this way. The best time for you to earn an income is in the morning. The income you earn now will be of use to you in the golden age. You are now claiming your inheritance from the Father. There, there are no financial difficulties; there are no worries there. The Father fills your aprons to such an extent that you don’t need to worry about earning an income. Here, human beings have so many worries about earning an income. Baba frees you from worrying for 21 births. Therefore, wake up early in the morning and talk to yourself in this way. We souls are residents of the supreme abode (paramdham); we are children of the Father. First, we enter the golden age. We take our inheritance from the Father. The Father says: Five thousand years ago, when Bharat was heaven, you were extremely wealthy. Now it is hell, the land of sorrow. Only the one Father becomes the Bestower of Salvation for all. You should remind each other. The golden age existed in Bharat alone. It was called heaven, liberation-in-life. Hell is called bondage in life. There was first the sun-dynasty kingdom, then the moon-dynasty kingdom and then the merchant and shudra-dynasty kingdoms. Because of having devilish intellects, human beings continue to cause each other sorrow. Every physical father becomes a servant of his children. They indulge in vice and create children. They take care of them and then push them into hell. When they begin to flounder in the river of poison, their father becomes happy. Therefore, they are innocent. This Father from beyond is also innocent; He is the Servant of the children. That worldly father pushes his children into hell whereas this One takes you to heaven, the land of peace. He does make effort. How innocent is He? He has left His supreme abode and come. He sees to what extent souls have become degraded. They continue to insult Me. They don’t even know Me. They also continue to insult My chariot. They have made many false allegations. They also accuse you. Krishna too has also been accused. However, no one can accuse Krishna when he is beautiful. It is only when he becomes ugly that he is accused. The one who was beautiful became ugly. That is why he is accused. Beautiful ones cannot be accused. When souls become impure from pure, they are insulted. This drama is preordained. Poor human beings don’t understand anything. Many become confused and say that they don’t know what type of knowledge this is; that these things are not mentioned in the scriptures. They have forgotten what the mothers of Bharat, the Shiv Shakti Army, did. The World Mother (Jagadamba) is called a Shiv Shakti. There are many temples built to her. There is also the Dilwala Temple. There is only the one Shiv Baba who wins hearts. There is Brahma, then Jagadamba and also you kumaris. There are also maharathis. You are identical to those in a practical way. That non-living memorial of yours (Dilwala Temple) exists for a long time; it will be destroyed and you will go to the golden age. There, there are no memorials etc. You were sitting like this exactly 5000 years ago and your memorial was later created. You ruled your kingdom in the golden and silver ages. Later, those memorials are created on the path of devotion for worshipping. You have also come to know Brahma, Vishnu and Shankar. Vishnu becomes Brahma and Brahma becomes Vishnu; that takes 84 births. You are now making effort again. You should follow Mama and Baba. You will become beautiful to the extent that you make effort. The Father is teaching you an easy way to become pure from impure. If you continue to remember the Father and the sweet home, you will become the masters of heaven. You should instil the habit of waking up in the morning and having remembrance. When this becomes firm, you will automatically have remembrance while walking and moving around. We only want to remember our sweet home and our sweet kingdom. First we become satopradhan and then we become sato, rajo and tamo. There cannot be any doubt about this, so there is no need to be confused. You have to remain pure. The diet of the deities is very pure. We too have to take precautions with food. There is no need to ask questions about this. The intellect first of all understands that lust is very bad. Secondly, you should not eat meat or drink alcohol. Impure ones find it difficult to eat food without onions or garlic. The Father explains that you will never get pure food from anyone apart from Brahmins. You have to stay in remembrance of the Father. The more you stay in remembrance, the purer you will become. Your intellects have to understand how you can save yourselves and with what method. You have to make your intellects work. You also have to remain in your households. Therefore, you have to have a relationship with your worldly family. You have to benefit them too. You also have to relate these things to them. The Father says: Become pure! Otherwise, you will endure a great deal of punishment and your status will become degraded. The rosary is made of those who pass with honours. It is now time of settlement; everyone’s karmic accounts of sin will be settled. Baba has explained that it is only by having remembrance that your sins will be absolved. This takes effort.

[wp_ad_camp_5]

 

Knowledge is very easy. The whole drama and the tree enter your intellects. However, you have to remember the sweetFather, the sweet kingdom and the sweet home. The play is now about to end and we have to return home. All have to shed their old bodies and return. Remember this firmly. You souls will shed your bodies while staying in remembrance in this way and you souls will go back. It is very easy. You children are now listening personally and others will hear on tapes. One day, people will definitely see and hear this knowledge on television. Everything will happen. It will become easy for those who come later on. Children who maintain courage receive help from the Father. This will also be arranged. There will also be those who do good service. There will be all these facilities for the children’s progress. Whoever wants to can take it. Just remember the one Father. Those of Islam also go around early in the morning and wake everyone up: “Wake up and remember Allah. This time is not for sleeping.” In fact, this refers to the present time. Remember Allah, because you receive the sovereignty of the kingdom of Paradise. Paradise is called the garden of flowers. They just sing that. You are becoming deities in a practical way by remembering the Father. The practice of waking up in the morning is very good. The atmosphere in the morning is very good. The morning begins after midnight. From two to three am is called the early morning hours of nectar. You should wake up early and remember the land of peace and the land of happiness. Achcha.

To the sweetest, beloved long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Stay in remembrance of the Father and eat pure food. Take great precautions about anything impure. Follow Mama and Baba and make effort to become pure.
  2. Wake up early in the morning and remember the sweet Father and the sweet kingdom. Settle all your karmic accounts at this time of settlement with remembrance of the Father.
Blessing: May you do combined service by having the awareness of the combined form and thereby become an embodiment of success.
Just as the soul and the body are combined and the future Vishnu form is combined¸in the same way, “The Father and I, the soul, are combined”. When you maintain the awareness of this form and do self-service together with service of all souls, you will then become an embodiment of success. Never say that you were very busy in service and that was why you were slack in your chart of self-service. Let it not be that you go to do service and that when you come back, you say that Maya came to you or that you had an “off-mood” or were disturbed. The way to expand service is to remain combined in serving the self and serving everyone.
Slogan: To be ignorant of limited desires is to be greatly wealthy.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

Read Bk Murli 24 August 2017 :- Click Here

 

Brahma kumaris murli 26 August 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 29 August 2017

September 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 29 August 2017 :- Click Here
BK murli today ~ 30/08/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली
30/08/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
”मीठे बच्चे – बाप का फरमान है देही-अभिमानी बनो, पवित्र बनकर सबको पवित्र बनाओ, निश्चयबुद्धि बन बाप से पूरा वर्सा लो”
प्रश्नः- अन्त में शरीर छोड़ने समय हाय-हाय किन्हों को करनी पड़ती है?
उत्तर:- जो जीते जी मरकर पूरा पुरूषार्थ नहीं करते हैं, पूरा वर्सा नहीं लेते हैं, उन्हें ही अन्त में हाय-हाय करनी पड़ती है।
प्रश्नः- इस समय अनेक प्रकार के लड़ाई-झगड़े वा पार्टीशन आदि क्यों हैं?
उत्तर:- क्योंकि सब अपने असली पिता को भूल आरफन, निधनके बन गये हैं। जिस मात-पिता से घनेरे सुख मिले थे, उसे भूल सर्वव्यापी कह दिया है, इसलिए आपस में लड़ते-झगड़ते रहते हैं।
गीत:- ओम् नमो शिवाए….

ओम् शान्ति। यह किसने कहा? ओम् शान्ति। आत्मा ने इन शरीर की कर्मेन्द्रियों द्वारा कहा। आत्मा है अविनाशी, शरीर है विनाशी। आत्मा एक शरीर छोड़ दूसरा लेती है। आत्मा सबसे जास्ती 84 जन्म लेती है। इनको कहा ही जाता है 84 जन्मों का पा। ऐसे नहीं सभी 84 जन्म लेते हैं। नहीं, मनुष्य तो इन बातों को नहीं जानते हैं। गीत में भी सुना शिवाए नम:, ऊंच ते ऊंच है शिव परमात्मा। वह है निराकारी दुनिया का रहने वाला, जहाँ सब आत्मायें रहती हैं। उनसे नीचे सूक्ष्मवतनवासी। ऊंचे ते ऊंचे भगवान की महिमा सुनी शिवाए नम:। तुम मात-पिता, बन्धु सहायक, यह उनकी महिमा है। फिर कहेंगे-ब्रह्मा देवताए नम:… वह रचयिता, वह रचना। फिर है यह मनुष्य सृष्टि। इस मनुष्य सृष्टि में ही पावन और पतित बनते हैं। सतयुग में पावन, कलियुग में पतित हैं। भारत में आज से 5 हजार वर्ष पहले देवी-देवता थे। वह सब थे मनुष्य, परन्तु सर्वगुण सम्पन्न 16 कला सम्पूर्ण थे। यह है उन्हों की महिमा। वहाँ हिंसा होती नहीं। विकार में जाते नहीं। उन्हों को कहते हैं सम्पूर्ण निर्विकारी। विकारी मनुष्य उन्हों की महिमा गाते हैं। आप सर्वगुण सम्पन्न, हम नीच पापी हैं। परमात्मा को भी याद करते हैं परन्तु उनको कोई जानते नहीं हैं इसलिए आरफन ठहरे। गाते भी हैं – तुम मात-पिता… जिससे सुख घनेरे मिलते हैं। फिर जब रावण राज्य शुरू होता है तो मनुष्य बाप को भूल पतित आरफन निधनके बन पड़ते हैं। आपस में लड़ते झगड़ते रहते हैं। सब जगह देखो झगड़े ही झगड़े लगे हुए हैं। कितने पार्टीशन हैं। स्वर्ग में तो एक ही लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। भारतवासी सारे विश्व के मालिक थे। अब तो टुकड़े-टुकड़े हैं। यह समुद्र तुम्हारा, यह हमारा, यह धरती हमारी, यह तुम्हारी… पंजाब, यू.पी., राजस्थान आदि-आदि, अलग-अलग हो गये हैं। भाषा पर भी कितने झगड़े होते हैं क्योंकि पारलौकिक माँ बाप को नहीं जानते हैं। भारत स्वर्ग था तो यह कोई बात नहीं थी। अब फिर स्वर्ग होना है। बाप बैठ समझाते हैं यह सृष्टि का चक्र कैसे फिरता है। बेहद का बाप बच्चों को कहते हैं तुम कितना बेसमझ बन पड़े हो। कहते भी हो हे परमपिता परमात्मा। फिर उनकी बायोग्राफी को नहीं जानते हो। बाप पतित-पावन, सद्गति दाता भी है। तुम तो जानते हो, वह तो कह देते हैं ईश्वर सर्वव्यापी है। सर्वव्यापी कहने से फिर वर्सा कैसे मिलेगा। जरूर बाप चाहिए ना, वर्सा देने वाला। लौकिक बाप बच्चों को पैदा करे और फिर पूछो तुम्हारा बाप कहाँ है तो क्या सर्वव्यापी कहेगा? अरे बेहद का बाप तो रचयिता है ना। उसको ही सब भगत पुकारते हैं – हे पतित-पावन, शिवबाबा आकर हमको पतित से पावन बनाओ। जैसे स्वर्ग में पावन थे वैसे फिर हमको आकर पावन बनाओ। हम बहुत दु:खी हैं। जबसे रावण राज्य शुरू होता है तो सब मनुष्य पतित होने लग पड़ते हैं। दर दर धक्के खाते रहते हैं। समझते हैं सबमें परमात्मा है। मूर्तियां ठिक्कर-भित्तर की बनी हुई है ना, तो समझते हैं कि इसमें भी भगवान है। अरे पत्थर में भगवान कहाँ से आया! वह तो परमधाम में रहता है। कितने ढेर चित्र बनाते हैं फिर जब पुराने हो जाते हैं तो फेंक देते हैं। यह है गुड़ियों की पूजा। कहते हैं हे बाबा हमको सद्गति दो। सर्व का सद्गति दाता एक ही पतित-पावन शिवबाबा है, उनको सब मनुष्य भूल गये हैं। उनको सब याद करते हैं। सबका पतियों का पति अथवा बापों का बाप वह है। बाप कहते हैं बच्चे अब पावन बनो। तुम्हारी आत्मा अब पतित हो गयी है, खाद पड़ गई है। सच्चे सोने में खाद डालने से अथवा अलाए पड़ने से सोने का मूल्य कम हो जाता है। तो यह भी तमोप्रधान दुनिया है। पहले गोल्डन एज में थे तो सम्पूर्ण निर्विकारी थे। फिर सिल्वर की खाद पड़ी फिर कापर, आइरन में आते हैं। आत्मा पतित होती जाती है। अभी तो बिल्कुल ही आइरन एजड हो गई है। वही भारत सतोप्रधान था, अब तमोप्रधान बन गया है। जो पहले-पहले थे जरूर उन्हों को ही पूरे 84 जन्म लेने पड़े। क्रिश्चियन आते ही बाद में हैं, वह 84 जन्म तो ले न सकें। वह 35-40 जन्म करके पाते होंगे। सृष्टि की आयु भी अब पूरी होती है फिर नई बनेगी। नई दुनिया में है सुख, पुरानी दुनिया में है दु:ख। पुराने मकान को तोड़ा जाता है ना। पुरानी दुनिया में तो सब दु:खी हैं। फिर इन सबको सुखी बनाने वाला तो बाप ही है। सतयुग में जो भी आत्मायें थी वह सुखी थी। बाकी सब आत्मायें शान्तिधाम में थी, जिसको फिर साइलेन्स वर्ल्ड कहा जाता है। साइलेन्स वर्ल्ड फिर सटल वर्ल्ड (सूक्ष्मवतन), वहाँ शरीर ही नहीं है तो आत्मा आवाज कैसे करेगी। तो अभी सब आत्मायें तमोप्रधान हैं इसलिए इसको आइरन एज कहा जाता है। पहले गोल्डन एज में थे अब फिर बाप आकर गोल्डन एज में ले जाते हैं। मनुष्य को देवता बनाते हैं। सतयुग में स्त्री पुरूष दोनों पवित्र रहते हैं। उनको रामराज्य कहा जाता है। अभी तो है रावणराज्य, एक दो पर काम कटारी चलाकर दु:खी करते रहते हैं। भगवान कहते हैं बच्चे काम महाशत्रु है, इसने ही तुमको दु:खी किया है। तुम बच्चे गिरते आये हो। अभी तो कोई कला नहीं रही है फिर 16 कला सम्पूर्ण बनाने बाप आये हैं। इसमें सन्यासियों के मुआफिक घरबार तो छोड़ना नहीं है। पावन दुनिया में जाने के लिए यह अन्तिम जन्म तुमको पवित्र जरूर बनना है। जो बाप द्वारा पवित्र बनेंगे वही पवित्र दुनिया के मालिक बनेंगे। यहाँ तुम बच्चे आये हो बाप के पास। यह हेड आफिस है – जहाँ सब आते हैं। पारलौकिक बाप आत्माओं को कहते हैं बच्चे, अब देही-अभिमानी बनो। आत्मायें भी कहती हैं हाँ बाबा हम आपका फरमान जरूर मानेंगे। पवित्र बनेंगे। यह श्रीमत है ना। श्रीमत से ही श्रेष्ठ बनना है। रावण की मत से तुम भ्रष्ट बने हो। तो इस शरीर द्वारा आत्मा कहती है हे बाबा हम आपके बने हैं। बाप कहते हैं मैं आया ही हूँ सर्व की सद्गति करने। पाप आत्मा से पुण्य आत्मा बनाने के लिए। तो पवित्र जरूर बनना है। पहले जब पवित्र बन ब्रह्माकुमार कुमारी बनें तब ही शिवबाबा से स्वर्ग के सुख का वर्सा पायें। तुम फिर से आये हो – बाप से वर्सा लेने। तुम जो देवी-देवता धर्म के थे, तुमने ही 84 जन्म लिये हैं। अभी वह देवी-देवता हैं नहीं। देवतायें जो पतित बने हैं वही आकर पावन बनेंगे। जो आये ही बाद में हैं वह स्वर्ग में जा न सकें। जिन देवी-देवता धर्म वालों के 84 जन्म पूरे हुए हैं, उन्हों को ही फिर से देवता बनना है। बाबा कहते हैं मैं ही आकर ब्रह्मा द्वारा देवी-देवता बनाता हूँ। पवित्र बनने बिगर तुम देवी-देवता बन नहीं सकते हो। इन बातों को समझेंगे वही जो आकर ब्रह्माकुमार कुमारी बनेंगे। प्रजापिता गाया जाता है ना। मनुष्य सृष्टि का जगत पिता और जगत अम्बा। उन्हों के इतने बच्चे कैसे होंगे। अभी है ब्रह्मा मुख वंशावली। सब मम्मा बाबा कहते हैं। कैसे बच्चे बने? शिवबाबा ने ब्रह्मा द्वारा तुमको अपना बनाया है। तुम शिवबाबा को याद करते हो, उससे स्वर्ग का वर्सा लेने। तो सब ब्रह्माकुमार कुमारियां आपस में भाई बहन ठहरे। यह है युक्ति। बाबा कहते हैं तुम गृहस्थ व्यवहार में भल रहो परन्तु कमल फूल समान पवित्र रहो। यह करके दिखाओ, घरबार छोड़ने की बात नहीं है। अपनी रचना की सम्भाल भी करो, सिर्फ पवित्र रहो तो इन देवताओं जैसा फिर बनेंगे। देवी-देवता धर्म की स्थापना तो जरूर होनी है। बाप बच्चों को सम्मुख बैठ समझाते हैं।

यह मधुबन है हेड आफिस। कितने सेन्टर्स खुलते रहते हैं। जो कल्प पहले ब्रह्माकुमार कुमारियां बने थे वही फिर ब्राह्मण से देवता फिर क्षत्रिय, वैश्य, शुद्र बनते आये हैं। अब फिर ब्राह्मण बनना पड़े। चोटी ब्राह्मणों की है ना। इन वर्णों से पास करना होता है। बाप कहते हैं तुम सो देवी-देवता थे। अब तुम फिर शूद्र से ब्राह्मण बने हो, सो देवी-देवता बनने के लिए। तुम पवित्र बनते हो। गायन भी है कुमारी वह जो 21 पीढ़ी का उद्धार करे। तुम सब ब्रह्माकुमार कुमारियां हो। कुमार और कुमारियां तो दोनों चाहिए ना। तुम हर एक को 21 पीढ़ी के लिए सदा सुख का रास्ता बताते हो। चलो अपने सुखधाम, यह है दु:खधाम। अभी बाप को याद करना है। बाप कहते हैं पवित्र बनो और मामेकम् याद करो। कोई भी देहधारी को याद नहीं करो। बाप ही बैठ बच्चों को सुख घनेरे देते हैं। अभी कितना दु:ख है। दु:ख में ही भगवान को याद किया जाता है। बाप स्वर्ग में ले जाते फिर वहाँ क्यों याद करेंगे। कहते हैं हे प्रभू, अन्धों की लाठी। परन्तु जानते तो कुछ भी नहीं। लक्ष्मी-नारायण के आगे भी जाकर कहेंगे – तुम मात-पिता…अब वह तो हैं स्वर्ग के मालिक। वह थोड़ेही सबके मात-पिता हो सकते हैं। कृष्ण एक राजधानी का, राधे दूसरे राजधानी की। फिर उनकी सगाई हो जाती है। स्वयंवर के बाद फिर नाम बदल जाता है। विष्णु के दो रूप लक्ष्मी-नारायण बनते हैं। दीपमाला पर महालक्ष्मी को बुलाते हैं ना। वह है युगल। अभी तुम काम चिता से उतर ज्ञान चिता पर बैठते हो। तुम हो सच्चे ब्राह्मण। तुम पवित्रता की प्रतिज्ञा कराते हो। बेहद का बाप कहते हैं पवित्र बनो तो पवित्र दुनिया के मालिक बनेंगे। घर बैठे भी याद कर सकते हो।

[wp_ad_camp_5]

 

बाबा कहते हैं तुम सबको मेरे पास आना है। मरना तो सबको है। यह वही महाभारत की लड़ाई है। यहाँ है यौवनों की लड़ाई। सतयुग में कोई लड़ाई आदि होती नहीं। बाप कहते हैं तुम इस रावण पर जीत पहनो। बाकी लड़ाई आदि की कोई बात नहीं। यह महाभारत की लड़ाई भी लगती है। बाकी थोड़े बचेंगे। भारत है अविनाशी खण्ड, बाकी खण्ड खत्म हो जायेंगे। बाप सबको वापिस ले जायेंगे। बाप सर्व की सद्गति करते हैं। आत्माओं को वापिस ले जाते हैं। अभी तुम बाप से वर्सा ले रहे हो। सन्यासी तो दे न सकें। वह कोई स्वर्ग का रचयिता थोड़ेही हैं। अभी स्वर्ग की स्थापना हो रही है। बाकी नर्क के मनुष्यमात्र सब खत्म हो जायेंगे। मरना तो है, क्यों न जीते जी वर्सा ले लेवें। नहीं तो हाय-हाय करेंगे। कुम्भकरण की आसुरी नींद से अन्त में जागेंगे। अभी सारे चक्र की नॉलेज तुम्हारी बुद्धि में है। तुम ही पूज्य थे फिर पुजारी बने फिर पूज्य बनते हैं। पावन राजायें भी थे, पतित राजायें भी थे। अब नो राजा। प्रजा का प्रजा पर राज्य है। फिर सृष्टि को चक्र खाना है, सतयुग में आना है। शिवबाबा इनके मुख से कहते हैं – तुम हमारे बच्चे हो। तुम भी कहते हो बाबा हम आपके बच्चे हैं। यह है मुख वंशावली। तुम ईश्वर का परिवार हो। भगवानुवाच एक बाप को याद करो। हम आत्मायें अब स्वीट होम में जाती हैं, जहाँ बाबा रहते हैं। फिर बाबा स्वीट स्वर्ग में भेज देते हैं, वहाँ भी शान्ति और सुख है। तुम यहाँ आये हो पवित्रता, सुख, शान्ति का वर्सा लेने। 21 जन्मों के लिए यह पढ़ाई है। तुम यहाँ के लिए नहीं पढ़ते हो। यह है ही मृत्युलोक। तुम अमरनाथ द्वारा अमरकथा सुन अमर बनते हो। जो बाप से आकर समझेंगे वही पवित्रता की प्रतिज्ञा करेंगे। वही फिर आकर वर्सा लेंगे। ब्रह्माकुमार कुमारियां तो ढेर के ढेर होते जायेंगे। दिन प्रतिदिन सेन्टर खुलते जायेंगे। शूद्र से ब्राह्मण बनते जायेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप से स्वर्ग का वर्सा लेने के लिए गृहस्थ व्यवहार में रहते, रचना की सम्भाल करते हुए कमल फूल समान पवित्र बनना है।

2) हर एक को 21 पीढ़ी के लिए सुखी बनाने का रास्ता बताना है। ज्ञान चिता पर बैठ शूद्र से ब्राह्मण और फिर देवता बनना है।

वरदान:- अपनी शक्तिशाली मन्सा शक्ति व शुभ भावना द्वारा बेहद सेवा करने वाले विश्व परिवर्तक भव 
विश्व परिवर्तन के लिए सूक्ष्म शक्तिशाली स्थिति वाली आत्मायें चाहिए, जो अपनी वृत्ति द्वारा श्रेष्ठ संकल्प द्वारा अनेक आत्माओं को परिवर्तन कर सकें। बेहद की सेवा शक्तिशाली मन्सा शक्ति द्वारा, शुभ भावना और शुभ कामना द्वारा होती है। तो सिर्फ स्वयं के प्रति भावुक नहीं लेकिन औरों को भी शुभ भावना, शुभ कामना द्वारा परिवर्तित करो। बेहद की सेवा वा विश्व प्रति सेवा बैलेन्स वाली आत्मायें कर सकती हैं। तो भावना और ज्ञान, स्नेह और योग के बैलेन्स द्वारा विश्व परिवर्तक बनो।
स्लोगन:- बुद्धि रूपी हाथ बापदादा के हाथ में दे दो तो परीक्षाओं रूपी सागर में हिलेंगे नहीं।
[wp_ad_camp_5]
To Read Murli 28 August 2017 :- Click Here
Font Resize