25 september ki murli

TODAY MURLI 25 SEPTEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 25 September 2020

25/09/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, have mercy on yourselves. Gallop ahead in this study. Don’t spoil your register by performing any sinful act.
Question: In order for you to pass this elevated study, what main teachings do you receive? To what must you pay special attention, in order to achieve this?
Answer: In order to pass this study, your eyes have to be very, very pure because those eyes deceive you; those eyes become criminal. When you look at someone’s body, the organs cause mischief. Therefore, your eyes must never become criminal. In order to become pure, maintain the consciousness of being brothers and sisters. Pay full attention to the pilgrimage of remembrance.
Song: Have patience, o mind! Your days of happiness are about to come.

Om shanti. Who said this? The unlimited Father said this to the unlimited children. When someone is unwell, he is given the reassurance: Have patience and all your suffering and sorrow will go away. He is reassured in this way to make him happy. Those are limited matters. Here, it is an unlimited matter. That One has so many children! He has to liberate them all from suffering and sorrow. Only you children know this. Do not forget it! The Father has come to grant everyone salvation. He is the Bestower of Salvation for All. Therefore, this means that everyone is in a degraded state. All human beings of the world, and that means the people of Bharat in particular and the people of the world in general, are included in this. You, in particular, go to the land of happiness. All the rest go to the land of peace. It enters your intellects that you truly were in the land of happiness and that those of other religions were in the land of peace. Baba came and made Bharat into the land of happiness. Therefore, advertise it in this way. Explain that incorporeal Shiv Baba comes every 5000 years. He is the Father of everyone and all are brothers. It is brothers who make effort to claim their inheritance from the Father. It isn’t that fathers make this effort. If all were fathers, from whom would they claim their inheritance? From brothers? That is not possible. You now understand how easy these things are. In the golden age, there is just the one deity religion. All the rest of the souls will have gone to the land of liberation. It is said: The repetition of the history and geography of the world takes place. Therefore, it must be the same history and geography that is repeated. After the iron age, there will be the golden age. Between the two, there is definitely the confluence age. This is called the supreme, most elevated, benevolent age. The locks on your intellects have now opened and you therefore understand that these are very easy things. There is the new world and the old world. There would surely be many leaves on an old tree and few leaves on a new tree. That is called the satopradhan world and this is the tamopradhan world. The locks on your intellects open, numberwise, according to the efforts you make. Because not all of you remember the Father accurately, you are unable to imbibe knowledge. The Father inspires everyone to make effort, but it is not in the fortune of some. According to the drama, those who study well and teach others, those who become the Father’s helpers in every situation, are the ones who will claim a high status. Students in a school can understand how many marks they are going to pass with. Those who are fast effort makers make effort with full force. Teachers are appointed to give them special tuition so that they pass no matter what happens. Here, too, you have to gallop ahead a great deal. Each of you has to have mercy on yourself! If you were to ask Baba what status you would claim if you left your body in your present stage, Baba could instantly tell you. This is a very easy thing to understand. Just as worldly students are able to understand, so you unlimited students can understand this. You can use your intellects to understand that you are repeatedly making the same mistakes and performing sinful acts. If you spoil your register your result is going to be according to that. Each one of you should keep your own register. In fact, according to the drama, everything is recorded. You can even understand for yourself when your register is very bad. If you can’t understand, then Baba can show you. Registers, etc. are kept in a school. No one in the world knows about this school. This school is called the Gita Pathshala. “Vedas Pathshala” is never said. No one says that there is a pathshala (study place) of the Vedas, the Upanishads or the Granth, etc. In a pathshala, there is an aim and objective: this is what we will become in the future. When someone studies the Vedas and scriptures a great deal, he receives a title and also earns an income. Some earn a lot of money but that is not an imperishable income; it doesn’t go with them. This true income will go with you and everything else will be destroyed. You children know that you are earning a lot of income. We can become the masters of the world. There is the sun dynasty. Therefore, the children would definitely receive the throne. The status is very high. You never even dreamt that you could make effort to claim a royal status. This is called Raj Yoga. Other yogas are to become a barrister or a doctor. They remember their studies and their teacher. It is the same here : easy remembrance. It is remembrance that takes effort. You have to consider yourselves to be bodiless souls. Each soul is filled with sanskars. Many who come here say that they used to worship Shiv Baba, but they didn’t know why they worshipped Him. Only Shiva is called Baba. None of the others are called Baba. Hanuman and Ganesh, etc. are worshipped, but Brahma is not worshipped, although there is a temple to him in Ajmer. A few brahmin priests there probably worship him, but there is no praise of him. There is so much praise of Krishna and Lakshmi and Narayan. There is no mention of Brahma, because Brahma is impure at this time. The Father comes and adopts him. This is very easy. So, the Father explains to you children in various ways. Keep it in your intellects that Shiv Baba is saying this. He is the Father, the Teacher and the Guru. Shiv Baba, the Ocean of Knowledge, is teaching us. You children have now become trikaldarshi; each of you has received a third eye of knowledge. You understand that souls are imperishable. The Father of souls is eternal. No one in the world knows this. All of them simply call out: Baba, come and purify us impure ones. They never called out to Him to come and tell them the history and geography of the world. The Father Himself comes and tells you this. He also tells you how you change from impure to pure, how you then become impure again and how history repeats. This is the cycle of 84 births. Why did we become impure and where do we want to go, when we become pure? People go to sannyasis, etc. and ask how they can have peace of mind. They don’t ask how they can become completely viceless and pure. They feel too ashamed to ask that. The Father has now explained: All of you are devotees and I am God, the Bridegroom. You are brides. All of you remember Me. I, the Traveller, am very beautiful. I make all the human beings of the world beautiful. Heaven is called the wonder of the world. Here, they have seven wonders. There, there is just the one wonder of the world, heaven. The Father is only one, heaven is only one. All human beings remember heaven. Here, there are no wonders. You children have patience, because you know that your days of happiness are now coming. You children understand that this old world is to be destroyed and that you will receive the kingdom of heaven. The kingdom is not yet established. Yes, subjects continue to be created. You children discuss among yourselves how service can increase and how everyone can receive the message. The Father establishes the original, eternal, deity religion and inspires the destruction of all others. You have to remember such a Father, who gives us the right to the tilak of sovereignty and inspires the destruction of everything else. Natural calamities are also fixed in the drama. The world cannot be destroyed without them. The Father says: Your examination is now very close. You have to be transferred from the land of death to the land of immortality. The more you study well and also teach others, the higher the status you will claim. You have to create your own subjects. You have to make effort to benefit everyone. Charity begins at home! This is the law. First, only your friends, relatives and people of your community will come and then the public will come. It happened like that in the beginning. There was gradual expansion and then a large house called Om Niwas was built for the children to live in. Children came and began to study there. All of that was fixed in the drama. It will all repeat again; no one can change it. This study is so elevated! The pilgrimage of remembrance is the main thing. The eyes are the main organs that deceive you. When the eyes become criminal, the physical organs of the body cause mischief. When someone sees a beautiful girl, he becomes trapped by her. There are many cases like that in the world. Even gurus sometimes have criminal vision. Here, the Father says: There must be no criminal vision whatsoever! Only when you live as brothers and sisters will you be able to remain pure. People know nothing about this. Therefore, they just make fun of you. These things are not mentioned in the scriptures. The Father says: This knowledge disappears, and then those scriptures etc. are created again in the copper age. The Father says: The main thing is to remember Alpha so that your sins are absolved. Consider yourselves to be souls. Having gone around the cycle of 84 births, you have now come here. You souls are now becoming deities. It is a wonder how an imperishable part of 84 births is recorded in a tiny soul. Only the Father comes and tells you about such wonders of the world. Some have parts of 84 births and others have parts of 50 to 60 births. The Supreme Father, the Supreme Soul, has also received a part. According to the drama, it is an eternal, imperishable drama. One cannot say when it began or when it will end, because it is an eternal, imperishable drama. No one knows these things. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and Good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. The time for the examination is coming very close. Therefore, make effort to bring benefit to yourself and everyone else. Study and also teach others. Charity begins at home!
  2. Become soul conscious and accumulate a true imperishable income for yourself. Keep your own register. Never perform any sinful acts that would spoil your register.
Blessing: May you have the awareness of being an instrument and become doublelight and so close the gates to Maya.
Those who always move along while considering themselves to be instruments automatically experience the double-light stage. Have this awareness “Karankaravanhar is inspiring me and I am an instrument”, and you will experience success. To have the consciousness of “I” means to open the gates to Maya. To consider yourself to be an instrument means to close the gates to Maya. By considering yourself to be an instrument, you become a conqueror of Maya and you also become double-light. Along with this, you also achieve success. This awareness becomes the basis of claiming number one.
Slogan: Perform every act while being trikaldarshi and you will easily achieve success.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 25 SEPTEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 25 September 2020

Murli Pdf for Print : – 

25-09-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
”मीठे बच्चे – अपने ऊपर आपेही कृपा करनी है, पढ़ाई में गैलप करो, कोई भी विकर्म करके अपना रजिस्टर खराब नहीं करो”
प्रश्नः- इस ऊंची पढ़ाई में पास होने के लिए मुख्य शिक्षा कौन-सी मिलती है? उसके लिए किस बात पर विशेष अटेन्शन चाहिए?
उत्तर:- इस पढ़ाई में पास होना है तो आंखें बहुत-बहुत पवित्र होनी चाहिए क्योंकि यह आंखें ही धोखा देती हैं, यही क्रिमिनल बनती हैं। शरीर को देखने से ही कर्मेन्द्रियों में चंचलता आती है इसलिए आंखें कभी भी क्रिमिनल न हों, पवित्र बनने के लिए भाई-बहिन होकर रहो, याद की यात्रा पर पूरा-पूरा अटेन्शन दो।
गीत:- धीरज धर मनुवा……………

ओम् शान्ति। किसने कहा? बेहद के बाप ने बेहद के बच्चों को कहा। जैसे कोई मनुष्य बीमारी में होता है तो उनको आथत दिया जाता है कि धीरज धरो-तुम्हारे सब दु:ख दूर हो जायेंगे। उनको खुशी में लाने के लिए आथत दिया जाता है। अब वह तो हैं हद की बातें। यह है बेहद की बात, इनके कितने ढेर बच्चे होंगे। सबको दु:ख से छुड़ाना है। यह भी तुम बच्चे ही जानते हो। तुमको भूलना नहीं चाहिए। बाप आये हैं सर्व की सद्गति करने। सर्व का सद्गति दाता है तो इसका मतलब सभी दुर्गति में हैं। सारी दुनिया के मनुष्य मात्र, उनमें भी खास भारत आम दुनिया कहा जाता है। खास तुम सुखधाम में जायेंगे। बाकी सब शान्तिधाम में चले जायेंगे। बुद्धि में आता है-बरोबर हम सुखधाम में थे तो और धर्म वाले शान्तिधाम में थे। बाबा आया था, भारत को सुखधाम बनाया था। तो एडवरटाइजमेंट भी ऐसी करनी चाहिए। समझाना है हर 5 हज़ार वर्ष बाद निराकार शिवबाबा आते हैं। वह सभी का बाप है। बाकी सब ब्रदर्स हैं। ब्रदर्स ही पुरूषार्थ करते हैं फादर से वर्सा लेने। ऐसे तो नहीं फादर्स पुरूषार्थ करते हैं। सब फादर्स हों तो फिर वर्सा किससे लेंगे? क्या ब्रदर्स से? यह तो हो न सके। अभी तुम समझते हो-यह तो बहुत सहज बात है। सतयुग में एक ही देवी-देवता धर्म होता है। बाकी सब आत्मायें मुक्तिधाम में चली जाती हैं। वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी रिपीट कहते हैं तो जरूर एक ही हिस्ट्री-जॉग्राफी है जो रिपीट होती है। कलियुग के बाद फिर सतयुग होगा। दोनों के बीच में फिर संगमयुग भी जरूर होगा। इसको कहा जाता है सुप्रीम, पुरूषोत्तम कल्याणकारी युग। अभी तुम्हारी बुद्धि का ताला खुला है तो समझते हो यह तो बहुत सहज बात है। नई दुनिया और पुरानी दुनिया। पुराने झाड़ में जरूर बहुत पत्ते होंगे। नये झाड़ में थोड़े पत्ते होंगे। वह है सतोप्रधान दुनिया, इनको तमोप्रधान कहेंगे। तुम्हारा भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार बुद्धि का ताला खुला है क्योंकि सब यथार्थ रीति बाप को याद नहीं करते हैं। तो धारणा भी नहीं होती है। बाप तो पुरूषार्थ कराते हैं, परन्तु तकदीर में नहीं है। ड्रामा अनुसार जो अच्छी रीति पढ़ेंगे पढ़ायेंगे, बाप के मददगार बनेंगे, हर हालत में ऊंच पद वही पायेंगे। स्कूल में स्टूडेन्ट भी समझते हैं हम कितने मार्क्स से पास होंगे। तीव्रवेगी जोर से पुरूषार्थ करते हैं। ट्युशन के लिए टीचर रखते हैं कि कैसे भी करके पास होवें। यहाँ भी बहुत गैलप करना है। अपने ऊपर कृपा करनी है। बाबा से अगर कोई पूछे अब शरीर छूटे तो इस हालत में क्या पद पायेंगे? तो बाबा झट बतायेंगे। यह तो बहुत सहज समझने की बात है। जैसे हद के स्टूडेन्ट समझते हैं, बेहद के स्टूडेन्ट भी समझ सकते हैं। बुद्धि से समझ सकते हैं-हमसे घड़ी-घड़ी यह भूलें होती हैं, विकर्म होता है। रजिस्टर खराब होगा तो रिजल्ट भी ऐसी निकलेगी। हर एक अपना रजिस्टर रखे। यूँ तो ड्रामा अनुसार सब नूँध हो ही जाती है। खुद भी समझते हैं हमारा रजिस्टर तो बहुत खराब है। न समझ सकें तो बाबा बता सकते हैं। स्कूल में रजिस्टर आदि सब रखा जाता है। इनका तो दुनिया में किसको पता नहीं है। नाम है गीता पाठशाला। वेद पाठशाला कभी नहीं कहेंगे। वेद उपनिषद ग्रंथ आदि किसकी भी पाठशाला नहीं कहेंगे। पाठशाला में एम ऑब्जेक्ट है। हम भविष्य में यह बनेंगे। कोई वेद शास्त्र बहुत पढ़ते हैं तो उनको भी टाइटिल मिलता है। कमाई भी होती है। कोई-कोई तो बहुत कमाई करते हैं। परन्तु वह कोई अविनाशी कमाई नहीं है, साथ नहीं चलती है। यह सच्ची कमाई साथ चलनी है। बाकी सब खत्म हो जाती हैं। तुम बच्चे जानते हो हम बहुत-बहुत कमाई कर रहे हैं। हम विश्व के मालिक बन सकते हैं। सूर्यवंशी डिनायस्टी है तो जरूर बच्चे तख्त पर बैठेंगे। बहुत ऊंच पद है। तुमको स्वप्न में भी नहीं था कि हम पुरूषार्थ कर राज्य पद पायेंगे। इसको कहा जाता है राजयोग। वह होता है बैरिस्टरी योग, डॉक्टरी योग। पढ़ाई और पढ़ाने वाला याद रहता है। यहाँ भी यह है – सहज याद। याद में ही मेहनत है। अपने को देही-अभिमानी समझना पड़े। आत्मा में ही संस्कार भरते हैं। बहुत आते हैं जो कहते हैं हम तो शिवबाबा की पूजा करते थे परन्तु क्यों पूजा करते हैं, यह नहीं जानते। शिव को ही बाबा कहते हैं। और किसको बाबा नहीं कहेंगे। हनूमान, गणेश आदि की पूजा करते हैं, ब्रह्मा की पूजा होती नहीं। अजमेर में भल मन्दिर है। वहाँ के थोड़े ब्राह्मण लोग पूजा करते होंगे। बाकी गायन आदि कुछ नहीं। श्रीकृष्ण का, लक्ष्मी-नारायण का कितना गायन है। ब्रह्मा का नाम नहीं क्योंकि ब्रह्मा तो इस समय सांवरा है। फिर बाप आकर इनको एडाप्ट करते हैं। यह भी बहुत सहज है। तो बाप बच्चों को भिन्न-भिन्न प्रकार से समझाते हैं। बुद्धि में यह रहे शिवबाबा हमको सुना रहे हैं। वह बाप भी है, टीचर, गुरू भी है। शिवबाबा ज्ञान का सागर हमको पढ़ाते हैं। अभी तुम बच्चे त्रिकालदर्शी बने हो। ज्ञान का तीसरा नेत्र तुमको मिलता है। यह भी तुम समझते हो आत्मा अविनाशी है। आत्माओं का बाप भी अविनाशी है। यह भी दुनिया में कोई नहीं जानते। वह तो सब पुकारते ही हैं-बाबा हमको पतित से पावन बनाओ। ऐसे नहीं कहते कि वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी आकर सुनाओ। यह तो बाप खुद आकर सुनाते हैं। पतित से पावन फिर पावन से पतित कैसे बनेंगे? हिस्ट्री रिपीट कैसे होगी, वह भी बताते हैं। 84 का चक्र है। हम पतित क्यों बने हैं फिर पावन बन कहाँ जाने चाहते हैं। मनुष्य तो सन्यासी आदि के पास जाकर कहेंगे मन की शान्ति कैसे हो? ऐसे नहीं कहेंगे हम सम्पूर्ण निर्विकारी पावन कैसे बनें? यह कहने में लज्जा आती है। अभी बाप ने समझाया है-तुम सब भक्तियां हो। मैं हूँ भगवान, ब्राइडग्रुम। तुम हो ब्राइड्स। तुम सब मुझे याद करते हो। मैं मुसाफिर बहुत ब्युटीफुल हूँ। सारी दुनिया के मनुष्य मात्र को खूबसूरत बनाता हूँ। वन्डर ऑफ वर्ल्ड स्वर्ग ही होता है। यहाँ 7 वन्डर्स गिनते हैं। वहाँ तो वन्डर ऑफ वर्ल्ड एक ही स्वर्ग है। बाप भी एक, स्वर्ग भी एक, जिसको सभी मनुष्य मात्र याद करते हैं। यहाँ तो कुछ भी वन्डर है नहीं। तुम बच्चों के अन्दर धीरज है कि अब सुख के दिन आ रहे हैं।

तुम समझते हो इस पुरानी दुनिया का विनाश हो तब तो राजाई मिले स्वर्ग की। अभी अजुन राजाई स्थापन नहीं हुई है। हाँ, प्रजा बनती जाती है। बच्चे आपस में राय करते हैं, सर्विस की वृद्धि कैसे हो? सबको पैगाम कैसे देवें? बाप आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना करते हैं। बाकी सबका विनाश कराते हैं। ऐसे बाप को याद करना चाहिए ना। जो बाप हमको राजतिलक का हकदार बनाए बाकी सबका विनाश करा देते हैं। नैचुरल कैलेमिटीज भी ड्रामा में नूँधी हुई है। इस बिगर दुनिया का विनाश हो नहीं सकता। बाप कहते हैं अभी तुम्हारा इम्तहान बहुत नज़दीक है, मृत्युलोक से अमरलोक ट्रांसफर होना है। जितना अच्छी रीति पढ़ेंगे पढ़ायेंगे, उतना ऊंच पद पायेंगे क्योंकि प्रजा अपनी बनाते हो। पुरूषार्थ कर सबका कल्याण करना चाहिए। चैरिटी बिगन्स एट होम। यह कायदा है। पहले मित्र-सम्बन्धी बिरादरी आदि वाले ही आयेंगे। पीछे पब्लिक आती है। शुरू में हुआ भी ऐसे। आहिस्ते-आहिस्ते वृद्धि हुई फिर बच्चों के रहने के लिए बड़ा मकान बना जिसको ओमनिवास कहते थे। बच्चे आकर पढ़ने लगे। यह सब ड्रामा में नूँध थी, जो फिर रिपीट होगा। इसको कोई बदल थोड़ेही सकता है। यह पढ़ाई कितनी ऊंच है। याद की यात्रा ही मुख्य है। मुख्य आंखें ही बड़ा धोखा देती हैं। आंखें क्रिमिनल बनती हैं तब शरीर की कर्मेन्द्रियाँ चंचल होती हैं। कोई अच्छी बच्ची को देखते हैं, तो बस उसमें फँस पड़ते हैं। ऐसे बहुत दुनिया में केस होते हैं। गुरू की भी क्रिमिनल आई हो जाती है। यहाँ बाप कहते हैं क्रिमिनल आई बिल्कुल नहीं होनी चाहिए। भाई-बहन होकर रहेंगे तब पवित्र रह सकेंगे। मनुष्यों को क्या पता वह तो हंसी करेंगे। शास्त्रों में तो यह बातें हैं नहीं। बाप कहते हैं यह ज्ञान प्राय:लोप हो जाता है। पीछे द्वापर से यह शास्त्र आदि बने हैं। अब बाप मुख्य बात कहते हैं कि अल्फ को याद करो तो विकर्म विनाश हो जाएं। अपने को आत्मा समझो। तुम 84 का चक्र लगाकर आये हो। अभी फिर तुम्हारी आत्मा देवता बन रही है। छोटी-सी आत्मा में 84 जन्मों का अविनाशी पार्ट भरा हुआ है, वन्डर है ना। ऐसे वन्डर ऑफ वर्ल्ड की बातें बाप ही आकर समझाते हैं। कोई का 84 का, कोई का 50-60 जन्मों का पार्ट है। परमपिता परमात्मा को भी पार्ट मिला हुआ है। ड्रामा अनुसार यह अनादि अविनाशी ड्रामा है। शुरू कब हुआ, बन्द कब होगा-यह नहीं कह सकते क्योंकि यह अनादि अविनाशी ड्रामा है। यह बातें कोई जानते नहीं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अभी इम्तहान का समय बहुत नज़दीक है इसलिए पुरूषार्थ कर अपना और सर्व का कल्याण करना है, पढ़ना और पढ़ाना है, चैरिटी बिगेन्स एट होम।

2) देही-अभिमानी बन अविनाशी, सच्ची कमाई जमा करनी है। अपना रजिस्टर रखना है। कोई भी ऐसा विकर्म न हो जिससे रजिस्टर खराब हो जाए।

वरदान:- निमित्त-पन की स्मृति से माया का गेट बन्द करने वाले डबल लाइट भव
जो सदा स्वयं को निमित्त समझकर चलते हैं उन्हें डबल लाइट स्थिति का स्वत:अनुभव होता है। करनकरावनहार करा रहे हैं, मैं निमित्त हूँ-इसी स्मृति से सफलता होती है। मैं पन आया अर्थात् माया का गेट खुला, निमित्त समझा अर्थात् माया का गेट बन्द हुआ। तो निमित्त समझने से मायाजीत भी बन जाते और डबल लाइट भी बन जाते। साथ-साथ सफलता भी अवश्य मिलती है। यही स्मृति नम्बरवन लेने का आधार बन जाती है।
स्लोगन:- त्रिकालदर्शी बनकर हर कर्म करो तो सफलता सहज मिलती रहेगी।

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 25 SEPTEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 25 September 2019

To Read Murli 24 September 2019:- Click Here
25-09-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – माया को वश करने का मंत्र है मन्मनाभव, इसी मंत्र में सब खूबियां समाई हुई हैं, यही मंत्र तुम्हें पवित्र बना देता है”
प्रश्नः- आत्मा की सेफ्टी का नम्बरवन साधन कौन-सा है और कैसे?
उत्तर:- याद की यात्रा ही सेफ्टी का नम्बरवन साधन है क्योंकि इस याद से ही तुम्हारे कैरेक्टर सुधरते हैं। तुम माया पर जीत पा लेते हो। याद से पतित कर्मेन्द्रियां शान्त हो जाती हैं। याद से ही बल आता है। ज्ञान तलवार में याद का जौहर चाहिए। याद से ही मीठे सतोप्रधान बनेंगे। कोई को भी नाराज़ नहीं करेंगे इसलिए याद की यात्रा में कमज़ोर नहीं बनना है। अपने आपसे पूछना है कि हम कहाँ तक याद में रहते हैं?

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चों को रोज़-रोज़ सावधानी जरूर देनी होती है। कौन सी? सेफ्टी फर्स्ट। सेफ्टी क्या है? याद की यात्रा से तुम बहुत-बहुत सेफ रहते हो। मूल बात ही बच्चों के लिए यह है। बाप ने समझाया है – तुम बच्चे जितना याद की यात्रा में तत्पर रहेंगे उतनी खुशी भी रहेगी और मैनर्स भी ठीक होंगे क्योंकि पावन भी बनना है। कैरेक्टर्स भी सुधारना है। अपनी जांच करनी है – मेरा कैरेक्टर किसको दु:ख देने जैसा तो नहीं है! मुझे कोई देह-अभिमान तो नहीं आ जाता है? यह अच्छी रीति अपनी जांच रखनी है। बाप बैठ बच्चों को पढ़ाते हैं। तुम बच्चे पढ़ते भी हो तो फिर पढ़ाते भी हो। बेहद का बाप सिर्फ पढ़ाते हैं। बाकी तो सब हैं देहधारी। इसमें सारी दुनिया आ जाती है। एक बाप ही विदेही है। वह तुम बच्चों को कहते हैं कि तुमको भी विदेही बनना है। मैं आया हूँ तुमको विदेही बनाने। पवित्र बनकर ही वहाँ जायेंगे। छी-छी को तो साथ ले नहीं जायेंगे इसलिए पहले-पहले मंत्र ही यह देते हैं। माया को वश करने का यह मंत्र है। पवित्र होने का यह मंत्र है। इस मंत्र में बहुत खूबियां भरी हुई हैं, इनसे ही पवित्र बनना है। मनुष्य से देवता बनना है। जरूर हम ही देवता थे इसलिए बाप कहते हैं – अपनी सेफ्टी चाहो, मजबूत महावीर बनना चाहो तो यह पुरूषार्थ करो। बाप तो शिक्षा देते रहेंगे। भल ड्रामा भी कहते रहेंगे। ड्रामा अनुसार बिल्कुल ठीक ही चल रहा है फिर आगे के लिए भी समझाते रहेंगे। याद की यात्रा में कमजोर नहीं बनना है। बाहर रहने वाली बांधेली गोपिकाएं जितना याद करती हैं, उतना सामने रहने वाले भी याद नहीं करते हैं क्योंकि उनको तड़फन होती है शिवबाबा से मिलने की। जो मिल जाते हैं उन्हों का पेट जैसेकि भर जाता है। जो बहुत याद करते हैं, वह ऊंच पद पा सकते हैं। देखा जाता है – अच्छे-अच्छे, बड़े-बड़े सेन्टर्स सम्भालने वाले मुख्य भी याद की यात्रा में कमज़ोर हैं। याद का जौहर बहुत अच्छा चाहिए। ज्ञान तलवार में याद का जौहर न होने कारण किसको तीर लगता ही नहीं, पूरा मरते नहीं। बच्चे कोशिश करते हैं ज्ञान का बाण लगाकर बाप का बनायें वा मरजीवा बनायें। परन्तु मरते नहीं, तो जरूर ज्ञान तलवार में गड़बड़ है। बाबा भल जानते हैं – ड्रामा बिल्कुल एक्यूरेट चल रहा है, परन्तु आगे के लिए तो समझाते रहेंगे ना। हरेक अपनी दिल से पूछो – हम कहाँ तक याद करते हैं? याद से ही बल आयेगा इसलिए कहा जाता है – ज्ञान तलवार में जौहर चाहिए। ज्ञान तो बहुत सहज रीति समझा सकते हैं।

जितना-जितना याद में रहेंगे उतना बड़े मीठे बनते जायेंगे। तुम सतोप्रधान थे तो बहुत मीठे थे। अब फिर सतोप्रधान बनना है। तुम्हारा स्वभाव भी बहुत मीठा चाहिए। कभी रंज (नाराज़) नहीं होना चाहिए। ऐसा वातावरण न हो जो कोई रंज हो। ऐसी कोशिश करनी चाहिए क्योंकि यह ईश्वरीय कॉलेज स्थापन करने की सर्विस बहुत ऊंची है। विश्व विद्यालय तो भारत में बहुत गाये जाते हैं। वास्तव में वह हैं नहीं। विश्व विद्यालय तो एक ही होता है। बाप आकर सबको मुक्ति-जीवनमुक्ति देते हैं। बाप जानते हैं सारी दुनिया के जो भी मनुष्य मात्र हैं, सब खत्म होने हैं। बाप को बुलाया भी इसलिए है कि छी-छी दुनिया का खात्मा और नई दुनिया की स्थापना करो। बच्चे भी समझते हैं बरोबर बाप आया हुआ है। अभी माया का पाम्प कितना है। फॉल ऑफ पाम्पिया का खेल भी दिखाते हैं। बड़े-बड़े मकान आदि बना रहे हैं – यह है पाम्प। सतयुग में इतने मंजिल के मकान बनते नहीं हैं। यहाँ बनते हैं क्योंकि रहने के लिये जमीन कम है। विनाश जब होता है तब सब बड़े-बड़े मकान भी गिर पड़ते हैं। आगे इतनी बड़ी-बड़ी बिल्डिंग नहीं बनती थी। बाम्बस जब छोड़ेंगे तो ऐसे गिरेंगे जैसे ताश के पत्ते गिरते हैं। इसका मतलब यह नहीं कि वही मरेंगे बाकी दूसरे रह जायेंगे। नहीं, जो जहाँ होगा चाहे समुद्र पर हो, पृथ्वी पर हो, आकाश में हो, पहाड़ों पर हो, उड़ रहा हो……. सब खत्म हो जायेंगे। यह पुरानी दुनिया है ना। जो भी 84 लाख योनियां हैं, यह सब खत्म हो जानी हैं। वहाँ नई दुनिया में यह कुछ भी होगा नहीं। न इतने मनुष्य होंगे, न मच्छर, न जीव जन्तु आदि होंगे। यहाँ तो ढेर के ढेर हैं। अब तुम बच्चे भी देवता बनते हो तो वहाँ हर चीज़ सतोप्रधान होती है। यहाँ भी बड़े आदमी के घर में जायेंगे तो बड़ी सफाई आदि रहती है। तुम तो सबसे जास्ती बड़े देवता बनते हो। बड़े आदमी भी नहीं कहेंगे। तुम बहुत ऊंच देवतायें बनते हो, यह कोई नई बात नहीं है। 5 हज़ार वर्ष पहले भी तुम यह बने थे नम्बरवार। यह इतना किचड़ा आदि वहाँ कुछ भी नहीं होगा। बच्चों को बड़ी खुशी होती है – हम बहुत ऊंच देवता बनते हैं। एक ही बाप हमको पढ़ाने वाला है जो हमको बहुत ऊंच बनाते हैं। पढ़ाई में हमेशा नम्बरवार पोजीशन वाले होते हैं। कोई कम पढ़ते हैं, कोई जास्ती पढ़ते हैं। अब बच्चे पुरूषार्थ कर रहे हैं, बड़े-बड़े सेन्टर्स खोल रहे हैं इसलिए कि बड़ों-बड़ों को मालूम पड़े। भारत का प्राचीन राजयोग भी गाया हुआ है। खास विलायत वालों को जास्ती उत्सुकता होती है – राजयोग सीखने की। भारतवासी तो तमोप्रधान बुद्धि हैं। वह फिर भी तमो बुद्धि हैं इसलिए उन्हों को शौक रहता है भारत का प्राचीन राजयोग सीखने का। भारत का प्राचीन राजयोग नामीग्रामी है, जिससे ही भारत स्वर्ग बना था। बहुत थोड़े आते हैं, जो पूरी रीति समझते हैं। स्वर्ग हेविन पास हो गया सो फिर होगा जरूर। हेविन अथवा पैराडाइज़ है सबसे वन्डर ऑफ वर्ल्ड। स्वर्ग का कितना नाम बाला है। स्वर्ग और नर्क, शिवालय और वेश्यालय। बच्चों को अब नम्बरवार याद है कि हमको अब शिवालय में जाना है। वहाँ जाने के लिए शिवबाबा को याद करना है। वही पण्डा है सबको ले जाने वाला। भक्ति को कहा जाता है रात। ज्ञान को कहा जाता है दिन। यह बेहद की बात है। नई चीज़ और पुरानी चीज़ में बहुत फर्क होता है। अब बच्चों की दिल होती है – इतनी ऊंच ते ऊंच पढ़ाई, ऊंचे ते ऊंचे मकान में हम पढ़ायें तो बड़े-बड़े लोग आयेंगे। एक-एक को बैठ समझाना पड़ता है। वास्तव में पढ़ाई वा शिक्षा के लिए एकान्त में स्थान होते हैं। ब्रह्म-ज्ञानियों के भी आश्रम शहर से दूर-दूर होते हैं और नीचे ही रहते हैं। इतने ऊपर की मंजिल पर नहीं रहते हैं। अभी तो तमोप्रधान होने से शहर में अन्दर घुस पड़े हैं। वह ताकत खत्म हो गई है। इस समय सबकी बैटरी खाली है। अब बैटरी को कैसे भरना है – यह बाप के सिवाए कोई भी बैटरी चार्ज कर न सके। बच्चों को बैटरी चार्ज करने से ही ताकत आती है। उसके लिए मुख्य है याद। उसमें ही माया के विघ्न पड़ते हैं। कोई तो सर्जन के आगे सच बतलाते हैं, कोई छिपा लेते हैं। अन्दर में जो खामियां हैं, वह तो बाप को बतलानी पड़े। इस जन्म में जो पाप किये हैं, वह अविनाशी सर्जन के आगे वर्णन करना चाहिए, नहीं तो वह दिल अन्दर खाता रहेगा। सुनाने के बाद फिर खायेगा नहीं। अन्दर रख लेना – यह भी नुकसानकारक है। जो सच्चे-सच्चे बच्चे बनते हैं, वह सब बाप को बतला देते हैं – इस जन्म में यह-यह पाप किये हैं। दिन-प्रतिदिन बाप ज़ोर देते रहते हैं, यह तुम्हारा अन्तिम जन्म है। तमोप्रधान से पाप तो जरूर होते होंगे ना।

बाप कहते हैं मैं बहुत जन्मों के अन्त में जो नम्बरवन पतित बना है, उनमें ही प्रवेश करता हूँ क्योंकि उनको ही फिर नम्बरवन में जाना है। बहुत मेहनत करनी पड़ती है। इस जन्म में पाप हुए तो हैं ना। कइयों को पता ही नहीं पड़ता है कि हम यह क्या कर रहे हैं। सच नहीं बतलाते हैं। कोई-कोई सच बतला देते हैं। बाप ने समझाया है – बच्चे, तुम्हारी कर्मेन्द्रियां शान्त तब होती हैं, जब कर्मातीत अवस्था बनती हैं। जैसे मनुष्य बूढ़े होते हैं तो कर्मेन्द्रियां ऑटोमेटिकली शान्त हो जाती हैं। इसमें तो छोटेपन में ही सब शान्त हो जाना चाहिए। योगबल में अच्छी तरह रहे तो इन सब बातों की एन्ड हो जाए। वहाँ कोई ऐसी गन्दी बीमारी, किचड़पट्टी आदि कुछ नहीं होता है। मनुष्य बड़े साफ-शुद्ध रहते हैं। वहाँ है ही राम राज्य। यहाँ है रावण राज्य, तो अनेक प्रकार की गन्दगी की बीमारियां आदि हैं। सतयुग में यह कुछ होती नहीं। बात मत पूछो। नाम ही कितना फर्स्टक्लास है – स्वर्ग, नई दुनिया। बड़ी सफाई रहती है। बाप समझाते हैं – इस पुरूषोत्तम संगमयुग पर ही तुम यह सब बातें सुनते हो। कल नहीं सुनते थे। कल मृत्युलोक के मालिक थे, आज अमरलोक के मालिक बनते हो। निश्चय हो जाता है कल मृत्युलोक में थे, अभी संगमयुग पर आने से अमरलोक में जाने के लिए तुम पुरूषार्थ कर रहे हो। पढ़ाने वाला भी अब मिला है। जो अच्छी रीति पढ़ते हैं तो पैसा आदि भी अच्छा कमाते हैं। बलिहारी पढ़ाई की कहेंगे। यह भी ऐसे है। इस पढ़ाई से तुम बहुत ऊंच पद पाते हो। अभी तुम रोशनी में हो। यह भी सिवाए तुम बच्चों के और कोई को मालूम नहीं है। तुम भी फिर घड़ी-घड़ी भूल जाते हो। पुरानी दुनिया में चले जाते हो। भूलना माना पुरानी दुनिया में चले जाना।

अभी तुम संगमयुगी ब्राह्मणों को मालूम है कि हम कलियुग में नहीं हैं। यह सदैव याद रखना है हम नये विश्व के मालिक बन रहे हैं। बाप हमको पढ़ाते ही हैं नई दुनिया में जाने के लिए। यह है शुद्ध अहंकार। वह है अशुद्ध अहंकार। तुम बच्चों को तो कभी अशुद्ध ख्यालात भी नहीं आने चाहिए। पुरूषार्थ करते-करते आखरीन पिछाड़ी में रिजल्ट निकलेगी। बाप समझाते हैं इस समय तक सब पुरूषार्थी हैं। इम्तहान जब होता है तो नम्बरवार पास हो फिर ट्रॉन्सफर हो जाते हैं। तुम्हारी है बेहद की पढ़ाई जिसको सिर्फ तुम ही जानते हो। तुम कितना समझाते हो। नये-नये आते रहते हैं बेहद के बाप से वर्सा पाने के लिए। भल दूर रहते हैं फिर भी सुनते-सुनते निश्चय बुद्धि हो जाते हैं – ऐसे बाबा के सम्मुख भी जाना चाहिए। जिस बाप ने बच्चों को पढ़ाया है, ऐसे बाप से सम्मुख तो जरूर मिलना चाहिए। समझकर ही यहाँ आते हैं। कोई नहीं समझे हुए हैं तो भी यहाँ आने से समझ जाते हैं। बाप कहते हैं दिल में कोई भी बात हो, समझ में नहीं आती हो तो भल पूछो। बाप तो चुम्बक है ना। जिसकी तकदीर में है वह अच्छी रीति पकड़ सकते हैं। तकदीर में नहीं है तो फिर खलास। सुना-अनसुना कर देते हैं। यहाँ कौन बैठ पढ़ाते हैं? भगवान। उनका नाम है शिव। शिवबाबा ही हमको स्वर्ग की बादशाही देते हैं। फिर कौन-सी पढ़ाई अच्छी? तुम कहेंगे हमको शिवबाबा पढ़ाते हैं जिससे 21जन्मों की बादशाही मिलती है। ऐसे-ऐसे समझाते-समझाते ले जाते हैं। कोई तो पूरा न समझने कारण इतनी सर्विस नहीं कर सकते हैं। बन्धन की जंजीरों में जकड़े रहते हैं। शुरू में तो तुम कैसे अपने को जंजीरों से छुड़ाकर आये। जैसे कोई मस्ताने होते हैं। यह भी ड्रामा में पार्ट था जो कशिश हुई। ड्रामा में भट्ठी बननी थी। जीते जी मरे फिर माया की तरफ कोई-कोई चले गये। युद्ध तो होती है ना। माया देखती है – इसने बड़ी हिम्मत दिखाई है। अब हम भी ठोक कर देखते हैं कि पक्के हैं वा नहीं? बच्चों की कितनी सम्भाल होती थी। सब कुछ सिखलाते थे। तुम बच्चे एलबम आदि देखते हो लेकिन सिर्फ चित्र देखने से भी समझ न सकें। कोई बैठ समझाये कि क्या-क्या होता था। कैसे भट्ठी में पड़े थे, फिर कोई कैसे निकले, कोई कैसे। जैसे रूपये छपते हैं तो भी कोई-कोई खराब हो पड़ते हैं। यह भी ईश्वरीय मिशनरी है। ईश्वर बैठ धर्म की स्थापना करते हैं। यह बात किसको भी पता नहीं है। बाप को बुलाते भी हैं परन्तु जैसे तवाई, समझते ही नहीं। कहते हैं यह कैसे हो सकता है। माया रावण एकदम ऐसा बना देती है। शिवबाबा की पूजा भी करते हैं फिर कह देते सर्वव्यापी। शिवबाबा कहते हो फिर सर्वव्यापी कैसे होगा। पूजा करते हैं, लिंग को शिव कहते हैं। ऐसे थोड़ेही कहते कि इसमें शिव बैठा है। अब पत्थर-ठिक्कर में भगवान को कहना.. तो क्या सब भगवान ही भगवान हैं। भगवान अनलिमिटेड तो नहीं होंगे ना। तो बाप बच्चों को समझाते हैं, कल्प पहले भी ऐसे समझाया था। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ऐसा मीठा वातावरण बनाना है जिसमें कोई भी नाराज़ न हो। बाप समान विदेही बनने का पुरूषार्थ करना है। याद के बल से अपना स्वभाव मीठा और कर्मेन्द्रियां शान्त करनी हैं।

2) सदा इसी नशे में रहना है कि अभी हम संगमयुगी हैं, कलियुगी नहीं। बाप हमें नये विश्व का मालिक बनाने के लिए पढ़ा रहे हैं। अशुद्ध ख्यालात समाप्त कर देने हैं।

वरदान:- श्रेष्ठ संकल्प की शक्ति द्वारा सिद्धियां प्राप्त करने वाले सिद्धि स्वरूप भव
आप मास्टर सर्वशक्तिवान बच्चों के संकल्प में इतनी शक्ति है जो जिस समय चाहो वह कर सकते हो और करा भी सकते हो क्योंकि आपका संकल्प सदा शुभ, श्रेष्ठ और कल्याणकारी है। जो श्रेष्ठ और कल्याण का संकल्प है वह सिद्ध जरूर होता है। मन सदा एकाग्र अर्थात् एक ठिकाने पर स्थित रहता है, भटकता नहीं है। जहाँ चाहे जब चाहे मन को वहाँ स्थित कर सकते हैं। इससे सिद्धि स्वरूप स्वत: बन जाते हैं।
स्लोगन:- परिस्थितियों की हलचल के प्रभाव से बचना है तो विदेही स्थिति में रहने का अभ्यास करो।

TODAY MURLI 25 SEPTEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 25 September 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 24 September 2019:- Click Here

25/09/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the mantra to control Maya is: Manmanabhav. All specialities are merged in this mantra. This mantra makes you pure.
Question: What is the number one method of safety for souls and how?
Answer: The pilgrimage of remembrance is the number one method of safety, because it is through this remembrance that your character is reformed and you conquer Maya. By having remembrance, your impure, physical organs become quiet. It is by having remembrance that you receive power. There has to be the power of remembrance in the sword of knowledge. It is only by having remembrance that you become sweet and satopradhan and do not upset anyone. Therefore, do not become weak in the pilgrimage of remembrance. Ask yourself to what extent you stay in remembrance.

Om shanti. You sweetest spiritual children definitely have to be cautioned every day. Which caution? Safety first. What is your safety? You Keep, very safe by having the pilgrimage of remembrance. This is the main thing for you children. The Father has explained: You will have happiness and very good manners to the extent that you children remain engaged in the pilgrimage of remembrance, because you have to become pure. Each of you also has to reform your character. Check yourself: Is my character such that it causes sorrow for others? Do I have any type of body consciousness? Check yourself in this very carefully. The Father sits here and teaches you children. You children study and then also teach others. The unlimited Father just teaches you; all the rest are bodily beings. The whole world is included in this. Only the one Father is bodiless. He says to you children that you too have to become bodiless. I have come to make you bodiless. Only after becoming pure will you go back there. He will not take back those who are dirty. That is why it is this mantra that He first gives to you. This is the mantra with which to control Maya. It is also the mantra with which you become pure. Many specialities are merged in this mantra. It is through this mantra that you will become pure. You have to change from human beings into deities. We definitely were deities. Therefore, the Father says: If you want to remain safe, if you want to become strong mahavirs, then make this effort. The Father continues to give you teachings, even though He continues to say that it is the drama. Everything is moving along absolutely accurately according to the drama, and He will continue to explain to you in the future too. You mustn’t become weak in the pilgrimage of remembrance. Gopikas in bondage who live outside remember the Father even more than those who live with the Father do, because they are desperate to meet Shiv Baba. The stomachs of those who have already met Him become full (satisfied). Those who stay in remembrance a great deal can claim a high status. It has been seen that the main ones who look after very big centres are weak in the pilgrimage of remembrance. There has to be very good power of remembrance. Because there is no power of remembrance in the sword of knowledge, the arrow doesn’t strike anyone; they don’t die completely. Children try to shoot arrows of knowledge at people and make them die alive and belong to the Father. However, if they don’t die, there must definitely be something wrong with the sword of knowledge. Although Baba knows that the drama is moving along absolutely accurately, He still continues to explain to you for the future. Each one of you can ask your heart: To what extent do I stay in remembrance? It is only by having remembrance that you will receive power. This is why it is said that there has to be power in the sword of knowledge. Knowledge can be explained very easily. The more you stay in remembrance, the sweeter you will continue to become. When you were satopradhan, you were very sweet. You now have to become satopradhan again. Your nature has to be very sweet. You must never get upset. Let the atmosphere not be such that someone gets upset. Make effort for this, because the service of establishing a Godly college is very elevated. There are many world universities remembered in Bharat. In fact, they are not that. There is only the one world university. The Father comes and gives everyone liberation and liberation-in-life. The Father knows that all the human beings of the whole world are to die. You have invited the Father to come and finish the dirty world and establish the new world. You children also understand that the Father truly has come. There is so much pomp of Maya now. They show the play, “The Fall of Pompei”. They build so many big buildings etc. That too is pomp. In the golden age, they won’t build buildings with so many storeys. They build such buildings here because there is very little land where people can live. When destruction takes place, all the tall buildings will fall. Previously, they didn’t make such tall buildings. When the bombs are released, buildings will fall like a pack of cards. This doesn’t mean that only those in the buildings will die and that others will still remain. No, wherever they are, whether they are at sea, on land, in the sky, on the mountains or flying, everyone will be destroyed. This is the old world. All the 8.4 million species will end. There, in the new world, none of this will remain. There won’t be so many human beings or mosquitoes or germs and insects etc. Here, there are so many of them. You children are now becoming deities, and so everything there will be satopradhan. Here, too, when you go to a wealthy person’s home, you find great cleanliness. You are becoming the greatest deities of all. You cannot be called important people now. You become very elevated deities but this is not something new. You also became this, numberwise, 5000 years ago. There won’t be so much rubbish etc. there. You children should be very happy that you are becoming very elevated deities. Only the one Father is teaching us and making us very elevated. In studying, people always have a numberwise position; some study less and others study more. Children are now making effort and opening big centres, so that eminent people can find out about this. “Ancient Raja Yoga of Bharat” has also been remembered. People abroad especially are very keen to study Raj Yoga. It is the people of Bharat who have tamopradhan intellects. Those others have tamo intellects. This is why they are keen to study the ancient Raja Yoga of Bharat. Ancient Raja Yoga of Bharat is very well known for it was through this that Bharat became heaven. Very few of those who come understand fully. Heaven has passed and it will definitely exist again. Heaven, that is, Paradise, is the greatest wonder of the world. Heaven is glorified so much. Heaven and hell, the Temple of Shiva and the brothel. You children now remember, numberwise, that you now have to go to Shivalaya. In order to go there, you have to remember Shiv Baba. He is the Guide who will take everyone back. Devotion is called the night and knowledge is called the day. This is an unlimited matter. There is a lot of difference between something new and something old. Children have the desire to teach such an elevated study in big buildings, so that eminent people will come. You have to sit and explain to each one individually. In fact, there are places of solitude for studying. The ashrams of the brahm gyanis are always far away from the cities and they always live on the ground floor. They don’t live on the higher floors of such tall buildings. Now, because they are tamopradhan, they have pushed their way into the cities. That power has now finished. At this time, everyone’s battery is empty. How can the batteries now be charged? No one, except the Father, can charge the batteries. It is only by charging your batteries that you children receive strength. For that, the main thing is remembrance. It is in this that there are obstacles of Maya. Some tell the Surgeon the truth, whereas others hide things. You have to tell the Father about the weaknesses within you. You should tell the imperishable Surgeon the sins you have committed in this birth. Otherwise, your conscience will continue to bite you. After telling Baba about them, your conscience will not bite. To keep them inside you is also harmful. Those who become true children tell the Father everything: These are the sins I have committed in this birth. Day by day, the Father continues to emphasize that this is your final birth. Those who are tamopradhan must surely be committing sin. The Father says: I enter the one who has become number one impure at the end of his many births, because he is the one who then has to claim number one. A lot of effort has to be made. You have committed sins in this birth too. Some don’t even realise what they are doing; they don’t tell the truth. Some do tell the truth. The Father has explained: Children, your physical organs will become quiet when you reach your karmateet stage, just as when people become old, their physical organs automatically quieten down. Here, all the physical organs have to be quietened at a young age. If you keep the power of yoga with you very well, all of those things will end. There, there are no dirty illnesses or rubbish or anything like that. People are very clean and tidy there. There, it is the kingdom of Rama, whereas here, it is the kingdom of Ravan. So, there are many types of bad illnesses etc. here. In the golden age, none of them will exist. Don’t even ask! The very name is so firstclass: heaven, the new world. There is a lot of cleanliness there. The Father explains: It is only at this most auspicious confluence age that you hear all of these things. Yesterday, you didn’t hear any of this. Yesterday, you were the masters of the land of death and today, you are becoming the masters of the land of immortality. You have the faith that you were in the land of death yesterday and that, by coming into the confluence age, you are now making effort to go to the land of immortality. You have now found the One who can teach you. Those who study well also earn a good income. It would be said that their greatness is in their studying. It is the same here, too. You claim a very high status through this study. You are now in the light. No one else, apart from you children, knows this. You too repeatedly forget this. You go back to the old world. To forget means to go back to the old world. You confluence-aged Brahmins now know that you are not in the iron age. Always remember that you are becoming the masters of the new world. The Father is teaching us so that we can go to the new world. This is pure pride whereas the other is impure pride. You children should never have impure thoughts. At the end, after efforts have been made, the result will be announced. The Father explains: Until that time, all are effort-makers. When the examination takes place, souls pass, numberwise, and are then transferred. Yours is an unlimited study which only you know. You explain so much. New ones continue to come to claim the inheritance from the unlimited Father. Although they live far away, their intellects develop faith by listening to this. You should also come personally in front of such a Baba. You should definitely personally meet the Father who educates you children. It is only when souls understand this that they come here. Some haven’t understood anything but then, when they come here, they are able to understand. The Father says: If you have anything in your heart and you are unable to understand, you may ask. The Father is the Magnet. Those who have it in their fortune are able to grasp this very well. If it is not in their fortune, then everything is over. They simply ignore everything they have heard. Who sits here and teaches you? God. His name is Shiva. It is Shiv Baba alone who gives us the sovereignty of heaven. Then, which study would be better? You would say that Shiv Baba, from whom we receive the sovereignty for 21 births, is teaching us. By explaining in this way, you can then bring them to Baba. Some are unable to do that much service because they don’t understand fully. They are totally caught up in the chains of bondages. In the beginning, you simply freed yourselves from the chains and came here, just like those who are totally intoxicated. It was also a part of the drama that there was that pull. The furnace (bhatthi) had to be created in the drama. You died alive, and then some went back to Maya. The war continues. Maya sees that you have shown great courage, and so she also hits you to test whether you are strong or not. Children were looked after so well. Everything was taught to them. You children look at those albums, but you cannot understand anything simply by looking at photos. Who would sit and explain about what used to happen? Look how you were in the bhatthi, and then how some came out of it in different ways! Similarly, when rupees are printed, some of them would be faulty. This is also the Godly mission. God sits here and establishes religion. No one knows this. They call out to the Father, but they are like crazy people who don’t understand anything. They ask: How is this possible? Maya, Ravan, makes them totally like that. People worship Shiv Baba and then they say that He is omnipresent! If you speak of Shiv Baba, how can He be omnipresent? People worship a lingam and call it Shiva. They do not say that Shiva is sitting in it. They say that God is in the pebbles and stones. Does that mean that all are God? God cannot be unlimited in that way. So, the Father explains to you children. He also explained in the same way in the previous cycle. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Create such a sweet atmosphere that no one can get upset. Make effort to become as bodiless as the Father. Make your nature sweet and your physical organs quiet with the power of remembrance.
  2. Always maintain the intoxication of your now being confluence aged and not iron aged. The Father is teaching you to make you into the masters of the new world. Finish all impure thoughts.
Blessing: May you receive all attainments through your power of elevated thoughts and become an embodiment of success.
You master almighty authority children have so much power in your thoughts that you can do whatever you want at any time and can inspire others too, because your thoughts are always pure, elevated and benevolent. Thoughts that are elevated and benevolent definitely become practical. Your mind is always concentrated, that is, it is stable in one stage; it does not wander. You are able to stabilise your mind where you want, whenever you want. By doing this, you automatically become an embodiment of success.
Slogan: In order to remain safe in any upheaval of adverse situations, practise staying in the bodiless stage.

*** Om Shanti ***

 

TODAY MURLI 25 SEPTEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 25 September 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 24 September 2018 :- Click Here

25/09/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, as long as souls are playing their part s they cannot take 100% rest. They take a rest in the land of nirvana where there is no part to play.
Question: What thoughts do the children who become tired of studying have which then become sinful thoughts?
Answer: They have thoughts of leaving the Father, that is, of divorcing the Father. Baba says: To have this thought is a sinful thought. It is a sin to have such a thought. Not to study means to become tired. Such children spoil their income. If you sulk with the Mother and Father due to any situation, you lose the sovereignty of 21 births.
Song: People of today are in darkness. 

Om shanti. This is a song and a prayer of the path of devotion. Whom do they pray to? To God but, because of being in extreme darkness they don’t know God. So who would listen to them? Only when God hears their call can He come and ignite their light. However, children don’t know God, so how can He hear them? You are now sitting personally in front of Him. God is taking you from extreme darkness into extreme light. It is remembered: The night of Brahma and the day of Brahma. At night they wander around a lot from door to door. They go to the mountains, religious places, temples and mosques etc., but where would anyone find God? People celebrate the birth of God in Bharat; they speak of the night of Shiva. There truly are images as memorials of Him in Bharat, but they don’t understand when He comes. They are completely in the dark. You are no longer in complete darkness. You are continuing to come into the light, numberwise, according to the effort you make. You children know who creates this whole world and how He creates it. You have come here to this world spiritual university where God is teaching you and making you into deities from human beings. Among you, too, you understand this knowledge numberwise. Some understand very well, whereas others, who don’t understand fully, run away; they sulk with the Mother and Father. Of such ones, it is remembered that they were the ones who were amazed and who then began to sulk with the Mother and Father. They like this knowledge, they relate it to others and then they become those who sulk. You know that you receive the sovereignty of heaven from the Mother and Father for 21 births and yet you forget Him. Baba has explained that what you call peace can only be received in the land of peace, the land of nirvana. That is also called the land of liberation. If some say that they are at 100% rest, there is no such thing. Throughout the day, they definitely perform one type of action or another. Yes, they can call sleep at night temporary rest because the soul says: Having worked through the whole day I am tired and so I am now taking a rest. The soul detaches himself. You know that the Father resides in the land of peace and you understand that the Supreme Father, the Supreme Soul, stays there at rest. God is at rest when He doesn’t have a part to play. No one does any work in the land of liberation. These matters have to be understood. The locks on your intellects are now continuing to open. The Father asks: Do you know when I am at rest? When you children are in heaven, in happiness. There, you have peace and happiness. That is not called rest. You can say you are at rest when you don’t have any part. When you are in heaven, I don’t have to make any effort. I stay there (at home) in peace. Another name for peace there is rest. You cannot stay at rest here. The soul says: I am at rest when I go to sleep at night. At that time, whether I am at rest or in peace, it is the same thing. You become bodiless at night; you become peaceful. Then, when you wake up, you start to act and you are then at ‘unrest . When doing anything you experience ‘unrest  (restlessness). In the golden age there is no question of ‘unrest . It is Maya that makes you restless (unrest). There, you would not say that you are at rest. While doing all your work you don’t remain peaceless. The word ‘rest  doesn’t exist there. For instance, someone might say: I am going to go to Simla for a rest, but that is not the meaning of ‘at rest . True rest is when we are in the land of nirvana. There, we remain silent. In fact, there is no rest. When someone says that he is at 100% rest itis wrong. That is called ignorance. Yes, it would definitely be said: If someone doesn’t want to study, he takes a rest. Not to study and to take a rest means you are tired. You then spoil your own income. It is said: O traveller of the night, don’t become weary while walking on the path to heaven. Don’t sulk. The thought of divorcing the Mother and Father should not even arise. If you have that thought, it is a sinful thought. Why should you have such a thought about the Mother and Father from whom you receive the kingdom of heaven? Sometimes, some write: I sometimes have the thought of leaving this study. I can’t understand anything. Ah, but this is the time to understand, is it not? To understand means to study. You know that we are studying. No one knows the Supreme Father, the Supreme Soul, who is the Ocean of Knowledge, the Highest on High. Although the people of Bharat know Brahma, Vishnu and Shankar and Lakshmi and Narayan, they don’t know when Lakshmi and Narayan claimed their kingdom or who gave it to them. Maya has put everyone into extreme darkness. The Father comes and explains how the Creator Father creates the human world. No one knows this at all. The Father alone sits here and explains. Prajapita Brahma cannot be called the Creator. Although he is called the Father of People, he is not the Creator. Some people say that Allah created them. Only the incorporeal Father would be called the Creator. It is only human beings who can know the Father, the Creator. Animals could not know Him. Animals couldn’t say that the Supreme Soul created them. Human beings would say that God created them. So, the Father sits here and explains: Look how this creation is created. First of all, there is the mouth-born creation. Children have to grow up and then become fathers. That unlimited Father says: Look how I too create creation. I enter this one and tell him through his mouth: O soul, you belong to Me. I am your Father. Then I create you children through him. You are the mouth-born creation. On the path of ignorance, it is said: However I am, whatever I am, I am Yours. The Father also says this. You become the children of Brahma. You are now the mouth-born creation and you will then become a physical creation. The Father says: You belong to Me and you will then go into the deity clan. No one can understand how the Father creates this Godly creation. The Father explains and this Brahma also says: I too become a mouth-born creation. Together with the Father, a mother is definitely needed. You say that you are the mouth-born creation of Prajapita Brahma and that Shiv Baba has made you belong to Him. He definitely needs a body, does He not? Shiv Baba doesn’t have a body of His own. He takes a body on loan. He then says: You belong to Me. This is called the mouth-born creation. Shiv Baba says through this mouth, through His wife: You are My children. Only the Father explains these things; these things are not mentioned in the scriptures etc. You listen to these things now and then they will disappear. At this time, there is extreme darkness. The Father comes and brings light and this is why the night of Brahma and the day of Brahma are remembered. At least something exists. It is sung: When there is falsehood, there is nothing but falsehood and not a trace of truth. However, the Father says: One thing or another remains; there isn’t annihilation. A few will remain and then the tree will begin to grow. People have shown a great annihilation, but a great annihilation does not take place. It isn’t that a child comes floating in the ocean on a pipal leaf. All of those things are lies. The Father has explained: When you come from the palace of a womb, you remain in bliss there. There is no sorrow or sinful acts there. That is the world of charitable souls whereas this is the world of sinful souls. You renounce everything here and become charitable souls for all time. You perform so much charity that, for half the cycle, no one would call you a sinful soul. You become imperishable, charitable souls. Then, for half the cycle you are called sinful souls. You repeatedly perform charity and make donations. Bharat is called completely righteous. It is in Bharat that they make donations and perform charity. You know that we are going to leave this world and will not come back here. You are transferring the materials of this world to the new world. People offer everything to God, that is, they transfer it to their next birth. Here, you transfer everything for 21 births. So, a lot is needed. He takes all the rubbish from you and gives you everything new. He takes all the old things from you and gives you golden things. You give to the Father with honesty and then the Father also gives you everything. Your parts that have continued are fixed in the drama. Everyone renounced their homes. How else could the cowshed have been created? People don’t know how the furnace was created. They show that there were kittens in a furnace. You children have all of this knowledge at this time. This knowledge will not then remain there. There, you won’t have the knowledge that you will rule a kingdom for 21 births and then fall down. It is now that you have the parts of being trikaldarshi. It is only you who have the main parts of hero and heroine. No one else has these parts. It is only you people of Bharat who change from devils into deities and deities into devils. All the rest are by-plots in between. In a play they have amusing parts in the middle. After half the cycle the deity religion disappears. This whole cycle continues to turn around in your intellects and this is why you are able to explain. The Supreme Father, the Supreme Soul, is God, the One who resides in the supreme abode. The Father says: I have all the knowledge in Me. I am the living Seed of the human world tree. Those are non-living seeds whereas Shiva is the living Seed. His image is worshipped. Nowadays, the Government plants tree saplings. This is the living Seed. He is called the Seed of the tree of the human world. I have the knowledge of the whole tree. When someone says that he is at 100% rest, you should explain that there can never be 100% rest. Yes, it can be said that there is 100% purity, happiness and peace in heaven. The very name is heaven. The Father is called Sat Shri Akaal. He is the One who speaks the truth. Death never comes to Him. He is called the Death of all Deaths. The Father says: This is the dirty world. This haystack definitely has to be set on fire. You children know that this Mahabharat War is greatly beneficial. People create sacrificial fires for peace, that is, they don’t want the gates of heaven to open. You clap your hands for the haystack to be set on fire so that you can go to the new world of Paradise. The flames of destruction emerged from this sacrificial fire of the knowledge of Rudra. Those who belong to the Father will become the masters of heaven. All the rest have to settle their karmic accounts and return home. You know that you now have to return to the land of liberation and that you then have to repeat your parts. Where did all those deities of the golden age come from? It is said: It didn’t take God long to change human beings into deities. He changes you from shells into diamonds, from impure to pure. To the extent that someone imbibes knowledge, so he accordingly claims a status. A kingdom is being established. You know that you are establishing heaven for yourself by following shrimat. If someone sulks with shrimat and follows the dictates of his own mind, those would be the dictates of Ravan. This is why you have to continue to take shrimat at every step. The Father makes you into trustee s for as long as you live. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become a complete donor. Surrender everything to the Father with honesty and transfer it to the new world.
  2. Become a trustee for as long as you live. Take shrimat from the Father at every step. Never sulk with shrimat or follow the dictates of your own mind.
Blessing: May you be a number one elevated Brahmin soul who keeps your body clean by considering it to be the temple of the soul.
You Brahmin souls are the number one elevated souls in the whole cycle, you are as valuable as diamonds. Whilst keeping this in your awareness, consider your body to be a temple of the soul and keep it clean. When an idol is elevated, its temple is then also just as elevated. You are trustees of your bodies in the form of the temple and this trusteeship naturally brings cleanliness and purity. By using this method, your purity of the body always gives the experience of spiritual fragrance.
Slogan: To observe the vow of maintaining spirituality is to be an enlightened soul.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 25 SEPTEMBER 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 25 September 2018

To Read Murli 24 September 2018 :- Click Here
25-09-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – जब तक आत्मा पार्ट में है तब तक उसे 100 परसेन्ट रेस्ट मिल नहीं सकती, रेस्ट मिलती है निर्वाणधाम में, वहाँ कोई पार्ट नहीं”
प्रश्नः- जो बच्चे चलते-चलते पढ़ाई से थक जाते हैं उन्हें फिर कौन से संकल्प आते हैं जो विकल्प का रूप ले लेते हैं?
उत्तर:- 1. उन्हें बाप को छोड़ देने के अर्थात् फारकती देने के संकल्प आते हैं। बाबा कहते – यह संकल्प आना भी विकल्प है। ऐसा संकल्प करना भी पाप है। पढ़ाई न पढ़ना माना ही थक जाना। ऐसे बच्चे अपना खाना खराब कर देते हैं। 2. अगर किसी बात के कारण कोई मात-पिता से रूठ जाते हैं तो वह 21 जन्मों की बादशाही गंवा देते हैं।
गीत:- आज अन्धेरे में हैं इंसान….. 

ओम् शान्ति। यह है भक्ति का गीत वा प्रार्थना। किसके पास प्रार्थना करते हैं? भगवान् के पास। परन्तु घोर अन्धियारे में होने कारण भगवान् को जानते ही नहीं। तो अब सुने कौन? जब भगवान् उन्हों की पुकार सुने तब आकर ज्योति जगाये। परन्तु बच्चे भगवान् को जानते ही नहीं तो सुनेंगे फिर कैसे? अभी तुम सम्मुख बैठे हो, भगवान् तुमको घोर अन्धियारे से घोर सोझरे में ले जा रहे हैं। गाते भी हैं ब्रह्मा की रात और ब्रह्मा का दिन। रात में दर-दर भटकते भी बहुत हैं। पहाड़ों पर, टिकाणे, मन्दिरों, मस्जिदों मे जाते हैं। परन्तु भगवान् मिलेगा कहाँ? भगवान् का जन्म भी भारत में मनाते हैं। शिव रात्रि कहते हैं ना। बरोबर उनकी यादगार प्रतिमायें भी भारत में हैं। परन्तु समझते नहीं कि वह कब आते हैं! बिल्कुल घोर अन्धियारे में हैं। अभी तुम घोर अन्धियारे में नहीं हो। तुम नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार सोझरे में आते जाते हो। तुम बच्चे जानते हो यह सारी सृष्टि की रचना कौन और कैसे करते हैं।

तुम यहाँ आये हो – ईश्वरीय विश्वविद्यालय में, जहाँ ईश्वर पढ़ाते हैं, मनुष्य से देवता बनाते हैं। यह नॉलेज तुम्हारे में भी नम्बरवार समझते हैं। कोई तो अच्छी रीति समझते हैं, कोई पूरा नहीं समझने वाले भागन्ती हो जाते हैं, मात-पिता से रूठ पड़ते हैं। जिनके लिए गाया हुआ है – आश्चर्यवत् ऐसे मात-पिता से रूठ पड़ते हैं। पशन्ती, कथन्ती फिर रूठ पड़न्ती…. जानते हैं मात-पिता से हमको 21 जन्म लिए स्वर्ग की बादशाही मिलती है, फिर भी भूल जाते हैं। बाबा ने समझाया है – जिसको शान्ति कहा जाता है वह मिलती ही है शान्तिधाम अथवा निर्वाणधाम में, उसको मुक्तिधाम भी कहा जाता है। अगर कोई कहे हम 100 परसेन्ट रेस्ट में हैं, परन्तु यह अक्षर कोई है नहीं। सारे दिन में कोई न कोई कर्म जरूर चलता है। हाँ, अल्पकाल के लिए रात के नींद को रेस्ट कहते हैं क्योंकि आत्मा कहती है मैं सारा दिन काम करके थक गयी हूँ, अब रेस्ट लेती हूँ। अपने को डिटैच कर देते हैं। यह तो जानते हो – बाप रहते ही हैं शान्ति-देश में या ऐसे समझते हो कि परमपिता परमात्मा वहाँ रेस्ट में रहते हैं। परमात्मा रेस्ट में तब रहते हैं जब उनका पार्ट नहीं है। मुक्तिधाम में कोई काम नहीं करते हैं। यह बड़ी समझने की बातें हैं। अभी तुम्हारी बुद्धि का ताला खुलता जाता है। बाप कहते हैं तुमको पता है मैं रेस्ट में कब रहता हूँ? जबकि तुम बच्चे स्वर्ग में, सुख में रहते हो। वहाँ तुमको सुख-शान्ति है। उसको रेस्ट नहीं कहा जायेगा। रेस्ट में तब कहें जब तुम्हारा कोई पार्ट नहीं है। तुम जब स्वर्ग में हो तो मुझे कोई मेहनत नहीं करनी पड़ती। मैं वहाँ (घर में) शान्त में रहता हूँ, शान्ति का दूसरा अक्षर वहाँ रेस्ट कहेंगे। यहाँ तो रेस्ट में रह नहीं सकते हैं। आत्मा कहती है – मैं रेस्ट में तब हूँ जबकि रात को नींद करती हूँ, उस समय रेस्ट में हूँ या शान्त में हूँ – बात एक ही है। रात को अशरीरी बन जाते हैं, शान्त हो जाते हैं। फिर उठते हैं तो कर्म में आते हैं फिर भी अन-रेस्ट है। कर्म करते अन-रेस्ट भासती है। सतयुग में अन-रेस्ट का सवाल नहीं, अन-रेस्ट करती है माया। वहाँ ऐसे नहीं कहेंगे कि हम रेस्ट में रहते हैं। काम-काज सब करते हैं परन्तु अशान्त नहीं रहते हैं। बाकी रेस्ट अक्षर है नहीं। समझो कोई कहते हैं हम शिमला जाते हैं रेस्ट के लिए, परन्तु रेस्ट का अर्थ नहीं। सच्ची रेस्ट तब है जब हम निर्वाणधाम में रहते हैं, वहाँ चुप रहते हैं। बाकी रेस्ट कोई को नहीं है। कोई कहे हमको 100 परसेन्ट रेस्ट है तो यह रांग है। इसको अज्ञान कहा जाए। हाँ, यह जरूर कहा जायेगा – पढ़ाई नहीं पढ़ने चाहते तो रेस्ट लेते हैं। न पढ़ना, रेस्ट लेना यह तो फिर थकना हो गया। अपना ही खाना खराब करते हैं।

समझाया जाता है – हे रात के राही, स्वर्ग की राह पर चलते-चलते थक मत जाना, रूठ नहीं जाना। मात-पिता को फ़ारकती देने का तो संकल्प भी नहीं उठाना चाहिए। यह संकल्प उठाया तो उसको विकल्प कहा जाता है। ऐसे मात-पिता जिससे स्वर्ग की राजाई मिलती है, उसके लिए संकल्प भी क्यों उठायें! लिखते हैं कभी-कभी संकल्प आता है – छोड़ दें, कुछ समझ में नहीं आता। अरे, समझने का तो यह टाइम है ना। समझना अर्थात् पढ़ना, तुम जानते हो हम पढ़ रहे हैं। परमपिता परमात्मा जो ज्ञान सागर है, ऊंच ते ऊंच है उनको कोई भी जानते नहीं। भल ब्रह्मा-विष्णु-शंकर अथवा लक्ष्मी-नारायण को जानते हैं परन्तु भारतवासियों को यह पता नहीं कि लक्ष्मी-नारायण ने राज्य कब लिया और किसने दिया? माया ने बिल्कुल ही घोर अन्धियारे में डाल दिया है। बाप आकर समझाते हैं – रचता बाप मनुष्य सृष्टि की रचना कैसे करते हैं? यह तो कोई भी नहीं जानते। बाप ही बैठ समझाते हैं प्रजापिता ब्रह्मा को क्रियेटर नहीं कहेंगे। भल प्रजापिता कहा जाता है परन्तु वह रचता नहीं। मनुष्य कहते हैं हमको अल्लाह ने पैदा किया। निराकार फादर को ही रचता कहेंगे। रचता बाप को जरूर मनुष्य ही जानेंगे, जानवर तो नहीं जानेंगे। जानवर तो मुख से नहीं कहेगा कि हमको परमात्मा ने रचा है। मनुष्य कहेंगे हमको भगवान् ने रचा है। तो बाप बैठ समझाते हैं – तुम देखो यह रचना कैसे रची? पहले-पहले रचना होती है मुख वंशावली की। बच्चे को बड़ा होकर फिर बाप बनना है। यह बेहद का बाप कहते हैं – देखो, मैं भी कैसे रचना रचता हूँ। इनमें प्रवेश कर इनको मुख द्वारा कहता हूँ – हे आत्मा, तुम मेरी हो, मैं तुम्हारा बाप हूँ। फिर इनके द्वारा तुम बच्चों को रचता हूँ। तुम हो मुख वंशावली। अज्ञान काल में भी कहते हैं ना जैसे हैं, तैसे हैं, मेरे हैं। बाप भी ऐसे कहते हैं। तुम ब्रह्मा के बच्चे बन जाते हो। तो अभी तुम हो मुख वंशावली फिर तुम कुख वंशावली भी बनेंगे। बाप कहते हैं तुम मेरे हो फिर तुम दैवी घराने में जायेंगे। बाप यह ईश्वरीय रचना कैसे रचते हैं – यह कोई भी समझ नहीं सकते। बाप समझाते हैं यह (ब्रह्मा) भी कहते हैं मैं भी मुख वंशावली बनता हूँ। बाप के साथ माँ जरूर चाहिए। तुम कहते हो हम प्रजापिता ब्रह्मा के मुख वंशावली हैं, शिवबाबा ने हमको अपना बनाया है। उनको शरीर तो चाहिए ना। शिवबाबा को तो शरीर नहीं है। शरीर का लोन लेते हैं। फिर कहते हैं तुम मेरे हो, इसको कहा जाता है मुख वंशावली। शिवबाबा इस मुख से, इस वन्नी (स्त्री) द्वारा कहते हैं कि तुम मेरे बच्चे हो। बाप ही समझाते हैं और कोई शास्त्रों आदि में यह बातें हैं नहीं। तुम अभी सुनते हो फिर प्राय:लोप हो जायेगा।

इस समय है घोर अन्धियारा। बाप आकर रोशनी करते हैं तब तो ब्रह्मा की रात, ब्रह्मा का दिन गाया हुआ है। कुछ तो है ना। गाया हुआ है झूठ तो झूठ, सच की रत्ती नहीं। परन्तु बाप कहते हैं – प्राय: कुछ न कुछ रहता है, प्रलय नहीं हो जाती। थोड़े रहेंगे फिर झाड़ वृद्धि को पाता है। मनुष्यों ने फिर महाप्रलय दिखाई है। परन्तु महाप्रलय कभी होती नहीं। ऐसे नहीं होता जो सागर में बच्चा पीपल के पत्ते पर आये, यह सब गपोड़े हैं। बाप ने समझाया है तुम जब गर्भ महल से आते हो तो वहाँ आनंद में रहते हो। वहाँ दु:ख, पाप कर्म होता नहीं। वह है ही पुण्य आत्माओं की दुनिया, यह है पाप की दुनिया। यहाँ सब कुछ त्याग कर तुम सदा पुण्य आत्मा बनते हो। तुम इतना पुण्य करते हो जो आधाकल्प तुमको कोई पाप आत्मा नहीं कहेंगे। तुम अविनाशी पुण्य आत्मा बन जाते हो। यहाँ फिर आधाकल्प पाप आत्मा कहेंगे। घड़ी-घड़ी दान-पुण्य करते रहते हैं। भारत को कम्पलीट धर्मात्मा कहा जाता है। भारत में दान-पुण्य करते हैं। तुम जानते हो यह दुनिया हम छोड़ने वाले हैं, फिर आना नहीं है। इस दुनिया की सामग्री तुम ट्रान्सफर करते हो नई दुनिया के लिए। मनुष्य ईश्वर अर्पणम् करते हैं अर्थात् ट्रान्सफर करते हैं दूसरे जन्म के लिए। यहाँ तुम ट्रान्सफर करते हो – 21 जन्मों के लिए। तो बहुत चाहिए ना। तुमसे सारी किचड़-पट्टी लेकर नया देते हैं। पुराना लेकर सोने का देते हैं। तुम सच्चाई से बाप को देते हो, बाप भी तुमको सब कुछ देते हैं। तुम्हारा पार्ट जो चलता आया है – यह ड्रामा में था, सबने घरबार छोड़ा। नहीं तो गऊशाला कैसे बने? मनुष्य तो नहीं जानते, भट्ठी कैसे बनती है! वह तो दिखाते हैं – बिल्ली के पूँगरे आदि थे।

यह सब ज्ञान तुम बच्चों को अभी है। फिर वहाँ यह ज्ञान नहीं रहेगा। हम ऐसे 21 जन्म राज्य करेंगे फिर गिरेंगे – वहाँ यह ज्ञान नहीं रहता। त्रिकालदर्शीपने का पार्ट तुम्हारे में अभी रहता है। मुख्य हीरो हीरोइन का पार्ट तुम्हारा ही है। और कोई का पार्ट नहीं। असुर से देवता फिर देवता से असुर तुम भारतवासी ही बनते हो। बाकी तो है बीच के बाइप्लाट्स। नाटक में बीच में फिर हंसी-कुड़ी का खेल भी करते हैं ना। आधाकल्प बाद देवी-देवता धर्म प्राय: लोप हो जाता है। तुम्हारी बुद्धि में यह सारा चक्र फिरता रहता है तब तो तुम समझाते हो ना। परमपिता परमात्मा भी परम आत्मा है, परमधाम में रहने वाला। बाप कहते हैं मेरे में सारा ज्ञान है। मैं मनुष्य सृष्टि का बीजरूप चैतन्य हूँ। वह तो जड़ बीज होते हैं, शिव तो चैतन्य है। उनकी प्रतिमा पूजी जाती है।

आजकल गवर्मेन्ट झाड़ों के सैपलिंग लगाती है। यह है चैतन्य बीज, मनुष्य सृष्टि रूपी झाड़ का बीज कहते हैं – मुझे सारे झाड़ की नॉलेज है। तो जब कोई कहते हैं 100 परसेन्ट रेस्ट में हैं, तो समझाना चाहिए कि 100 परसेन्ट रेस्ट तो कभी मिलती नहीं। हाँ, ऐसे कहेंगे स्वर्ग में 100 परसेन्ट पवित्रता-सुख-शान्ति रहती है। नाम ही है स्वर्ग। बाप को कहते हैं सत श्री अकाल। सच बोलने वाला। उनको कोई काल नहीं खाता। उनको कहा जाता है कालों का काल। बाप कहते हैं यह छी-छी दुनिया है। इस भंभोर को आग जरूर लगनी है। तुम बच्चे जानते हो यह महाभारत लड़ाई महा-कल्याणकारी है। मनुष्य यज्ञ करते हैं कि शान्ति हो जाए, गोया समझते हैं स्वर्ग के गेट्स न खुलें। तुम तो ताली बजाते हो, भंभोर को आग लगे तो हम नई दुनिया वैकुण्ठ में जायें। यह विनाश ज्वाला इस रुद्र ज्ञान यज्ञ से ही प्रज्जवलित हुई है। जो बाप के बनेंगे वही स्वर्ग के मालिक बनेंगे। बाकी सबको हिसाब-किताब चुक्तु कर वापिस जाना है। तुम जानते हो अब वापिस मुक्तिधाम में जाकर फिर अपना पार्ट रिपीट करना है। सतयुग में यह इतने सब देवी-देवता कहाँ से आये? मनुष्य से देवता किये करत न लागी वार। तुमको कौड़ी से हीरे जैसा, पतित से पावन बनाते हैं। जितना जो नॉलेज धारण करेंगे उतना पद पायेंगे। राजधानी स्थापन हो रही है। तुम जानते हो हम अपने लिए स्वर्ग की स्थापना कर रहे हैं श्रीमत पर। अगर श्रीमत से कोई रूठकर अपनी मत पर चले तो वह रावण मत हो जायेगी इसलिए क़दम-क़दम पर तुम श्रीमत लेते रहो। बाप जीते जी तुमको ट्रस्टी बनाते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) कम्पलीट दानी बनना है। सच्चाई से सब बाप को अर्पण कर नई दुनिया के लिए ट्रांसफर कर देना है।

2) जीते जी ट्रस्टी बनना है। क़दम-क़दम पर बाप से श्रीमत लेनी है। कभी भी श्रीमत से रूठ मनमत पर नहीं चलना है।

वरदान:- तन को आत्मा का मन्दिर समझ उसे स्वच्छ बनाने वाले नम्बरवन श्रेष्ठ ब्राह्मण आत्मा भव
हम ब्राह्मण आत्मायें सारे कल्प में नम्बरवन श्रेष्ठ आत्मायें हैं, हीरे तुल्य हैं, इस स्मृति से तन को आत्मा का मन्दिर समझकर स्वच्छ रखना है। जितनी मूर्ति श्रेष्ठ होती है उतना ही मन्दिर भी श्रेष्ठ होता है। तो इस शरीर रूपी मन्दिर के हम ट्रस्टी हैं, यह ट्रस्टीपन आपेही स्वच्छता वा पवित्रता लाता है। इस विधि से तन की पवित्रता सदा रूहानी खुशबू का अनुभव कराती रहेगी।
स्लोगन:- रूहानियत में रहने का व्रत लेना ही ज्ञानी तू आत्मा बनना है।
Font Resize