25 october 2017

TODAY MURLI 25 OCTOBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 25 OCTOBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 24 October 2017 :- Click Here

25/10/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to pay a great deal of attention to this spiritual study. There is a big burden of sins on your heads. Therefore, don’t wasteyour time.
Question: What are the signs of the children who pay attention to their spiritual income?
Answer: They never waste their time gossiping. Even while doing everything for the livelihood of their bodies, they occupy their time earning a spiritual income. They wake up early in the morning and remember the Father with a lot of love. The souls continue to fly in remembrance. They are merciful like the Father and have mercy for themselves and for everyone else. They give everyone the Father’s introduction.
Song: You are the Mother and You are the Father.

Om shanti. You children heard the praise of the Mother and Father in the song. In a family at home, there are the children, the mother and father and the grandfather. You receive an inheritance from your grandfather through the father because the property of the grandfather always belongs to the elders. Therefore this one (Brahma Baba) too, is the eldest of all. People of the world don’t know this, but you children do. “You are the Mother and You are the Father.” These words apply to Dada (Grandfather). Therefore, His introduction has to be given. Whether personally, with pictures, or through a projector , it is absolutely essential to give the grandfather’s introduction. A physical grandfather is corporeal. Now, who entered your intellect first? Dada. Even if you explain using a projector, show the pictures, numberwise, one by one. First of all, give the explanation of the Supreme Father, the Supreme Soul. What is your relationship with the Supreme Father, the Supreme Soul? Then ask: What is your relationship with Prajapita Brahma? First of all, show them the picture of Shiva and then the writing that is explained at the exhibitions and in the magazines. So, first of all, give His introduction. It is written in the Gita, “God speaks”. Therefore, first of all, give God’s introduction. The intellects of all of you have gone up above. The highest of all is the Supreme Father, the Supreme Soul, incorporeal Shiv Baba. Then, there are Brahma, Vishnu and Shankar. Then, when you come here, it is like a home where the mother and father and the Grandfather are sitting. That is limited and this is unlimited. All of the pictures should have an explanation on them. You should also show the difference between all the many human beings who have been teaching hatha yoga and the one Supreme Soul who teaches Raja Yoga through which you receive liberation and liberation-in-life. Here, it is just a matter of the versions of the one incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva. Just as children keep their physical mother, father and grandfather in their intellects, so it is like that, identically, in your intellects. It is just that this is the Parlokik and that is the lokik. You have the faith that this is Shiv Baba. He is our Father and so we should remember Him. However, you children forget this; you waste a lot of time. You mustn’t waste time because there is a big burden of sins on your heads. Souls are filled with alloy. Therefore, you should write who the Supreme Soul is. You should repeatedly explain the pictures of the Supreme Soul and Krishna. The globes of heaven and hell are very well known. On the globe of hell, write: This is the kingdom of Ravan, the corrupt world. On the globe of heaven, write: This is the elevated world. You should also write the duration: Heaven lasts for this long and hell lasts for this long. There is also the picture of the stage of ascent and the stage of descent, because it takes 5000 years to come down whereas you ascend in a second. So, this is a jump. This is the main thing to explain, and then there is the variety-form image in which the topknot of Brahmins is God’s community. Your Brahmin clan, created through the mouth of Brahma, is very well known; it is the most elevated. Therefore, it is essential to have these pictures in order to explain to everyone. The tree of the variety of religions is also very good. You children have to become spinners of the discus of self-realisation. You also have to give knowledge of the cycle and how it turns. How are the parts of Brahma and Saraswati those of the hero and heroine? The picture of the cycle should be very big too. You should show the projector slides for about an hour or an hour and a half at the most; otherwise, people become tired of these things. This is not a story; it is a matter of knowledge. Only when they first write something down can they then come in. Therefore, you should have a ticket to see the show. Not tickets to be bought with money, but an entry pass. Prominent people should be sent an invitation because you have to take their opinion s. How will you make large groups of people give their opinion? How will you show it to them, because you also have to explain to them? This is why you first have to invite eminent people and make them write down their opinions and then make it general. It should be like this for the exhibitions and also the projector. You can also have these very good pictures printed in the magazines and also write down an explanation of them and then give them as a present to others. You should also very clearly write the contrast between hatha yoga and Raja Yoga. Hatha yoga is also a type of violence because you cause suffering to the body; you cause it difficulties. Yours is non-violent yoga, which is extremely easy. As you walk and move along, you continue to remember the Father. You also have to prove what violence is and what non-violence is. Some people perform all those rituals for good health. They are not able to meet God. They still call that yoga; they speak of yoga ashrams. This then is easy Raja Yoga. It is the yoga that is taught by God. This should be explained very clearly. What would those whose intellects’ yoga is caught up in gossiping throughout the day be able to explain to others? Those who have it in their intellects that they want to do service will do it. After doing your business for eight hours, you should earn this income. That is a physical income whereas this is a spiritual income. Therefore, you should pay a lot of attention to this income. You should practise yoga a great deal. Wake up early in the morning and remember the Father with a lot of love. Even those who were placed in the first and second numbers by the Father don’t remember Him now. They give very good lectures, but they don’t stay in remembrance. Souls will fly with remembrance not with knowledge. It is with remembrance that people go into trance. There is no question of knowledge in that. Trance is something worth only a few pennies. Some very quickly have visions of Shri Krishna. Some children write: Baba, I recognised You. They see Brahma in trance and they also receive inspiration. So they then develop faith. Those who have never even seen Baba write that they remember Baba a great deal. “I will definitely claim the inheritance from You. You know that I remember You.” When she says “You” she remembers Shiv Baba. Daughters in bondage remember Baba a great deal. Even those who are in front of Baba don’t remember Him as much. One thing is remembrance and then, as Gandhiji used to say, there should be the kingdom of Rama. It is now the kingdom of Ravan. You can explain this. It is only God who can bring about the stage of ascent. Everyone else continues to bring others down. Even deities continue to fall. Although they are in happiness, their degrees continue to decrease. They continue to fall like a louse because even the drama continues to move like a louse. Therefore, the stage of ascent is brought about by only the One. A projector is very good to explain with. The number of centres will increase a great deal too. Baba says that you should continue to make slides in all languages. However, there isn’t anyone who would do this work. Baba gives you methods, but someone is needed to carry those out so that service can increase a great deal. You children should have a lot of mercy for your brothers and sisters. Baba is also merciful. It is only in Bharat that I come. I don’t come in any other place. It is in Bharat that they celebrate the birthday of Shiva. However, they don’t know anything about it. For instance, when they celebrate the birthday of Christ, they know his work, but no one knows the task of Shiva. He is the Purifier. Bharat is the greatest pilgrimage place. By inserting Krishna’s name in the Gita, they have made the praise of Bharat, the greatest pilgrimage place, disappear. Look how Mahmud Guznavi looted the temple! If he had been aware that that was the temple to his Baba, he wouldn’t have looted it. Who would loot the temple to Allah? Who would do that to the One who established heaven? If he knew Shiv Baba, he wouldn’t even dare touch the temple. They bow down to Shiva, but if they knew everything about Him (Shiv Baba) they wouldn’t loot it. All of that happened simply because Krishna’s name was put in the Gita. Look what their condition has become because the Gita was falsified! Instead, it should have been Shiva’s name, that He alone is the Bestower of Liberation and Salvation. This is the praise of just the One. If He didn’t come, how would we become pure? How could we make Bharat into heaven? This is an incognito matter. You know that you were in degradation. You are now sitting here, but you are to go back home. You children should have a lot of happiness that you are establishing a kingdom for yourselves. Therefore, you should show others this path and create subjects. You should make a lot of effort. It is very easy. Simply remember the Father and the inheritance. Remember heaven. This is hell. Baba has also explained to you the meaning of ‘hum so’ (I am that which I was). I was a deity; I was a warrior. No one else understands these things. You have to explain all of the things in the variety-form image about how you become deities. We are now about to go to heaven. Many people ask how much longer it will be. Baba says: You haven’t yet become ready to be able to go to heaven. The drama is predestined. While establishment is taking place, the flames of destruction are also gradually increasing. The war of religions is also beginning. Partition didn’t exist before. You know that there was at first just the one deity religion. There is the song: Now that we have found You, we are claiming our kingdom of heaven with the power of yoga. No one can claim it with physical power. Those people have physical power. If Russia and America were to unite, they could take over the whole kingdom. However, that doesn’t happen. When it is the kingdom of deities, there are no Christians or Buddhists there. The deity religion is now being established. Bharat is the imperishable land. The Father has come here. It is in the drama that you receive the kingdom with the power of yoga. This ancient yoga of Bharat is well known, but people don’t know who taught yoga or how it was taught. Krishna didn’t teach yoga. Only the Supreme Father, the Supreme Soul, teaches you yoga now. This is something so slippery that it slips out of your intellects. Some know this and yet leave it. That is why the Father says: If you want to see sensible ones, see them here! Sensible ones claim their inheritance. Senseless ones leave it. They lose the inheritance of heaven. If you want to see the greatest fools and the greatest sensible ones, see them here! They will also go to heaven, but they will become part of the subjects. You know how the sun and moon dynasty subjects are created. It is here that you take the Father’s lap. There is no question of a lap in the incorporeal world. When a child is born, he is placed in the lap of a guru. They believe that if the child doesn’t go into the lap of a guru, he will go into degradation. They even make young children adopt gurus. “There is no salvation without a guru.” This is what gurus have told people. You never know when you will leave your body. There, they take birth and then go to a guru. Here, all three are combined. It is not written in any of the scriptures that the lap of the Father, Teacher and Guru is one and the same. The Father asks: Does Shiv Baba have a father? You say, “Yes.” (When we make Shiv Baba our Child.). OK, does Shiv Baba have a teacher? Does He have a guru? No. He simply has a mother and father. This is a very deep account. The Father surrenders Himself to the children and the children surrender themselves to the Father. In the world, a child doesn’t surrender himself to his parents. It is the father who does this. Therefore, it has to be understood that the Supreme Soul is the Father, Teacher and Satguru and that you receive the inheritance from Him. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become a spinner of the discus of self-realisation. Maintain the intoxication that we Brahmins are the topknot and that we belong to God’s community.
  2. Use your time in a worthwhile way in remembrance of the Father. Remain busy in spiritual service. Surrender yourself fully to the Father.
Blessing: May you be a conqueror of matter and a conqueror of Maya and maintain the intoxication of self-sovereignty by being seated on the immortal throne and the heart-throne.
A soul who is seated on the immortal throne always maintains spiritual intoxication. Just as a king cannot rule his kingdom without intoxication, similarly, if a soul does not have the intoxication of self-sovereignty, he cannot rule his subjects, that is, over his physical senses. So, be seated on the immortal throne and the heart-throne and maintain this spiritual intoxication and no obstacle or problem can then come in front of you. Neither matter nor Maya will be able to attack you. To be seated on the throne means easily to become a conqueror of matter and a conqueror of Maya.
Slogan: In order to achieve success in your thoughts, continue to fly with the power of the soul.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

Read Murli 22 October 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 25 OCTOBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 25 October 2017

October 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 24 October 2017 :- Click Here
[Web-Dorado_Zoom]
25/10/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम्हें रूहानी कमाई में बहुत-बहुत ध्यान देना है, सिर पर विकर्मो का बोझा बहुत है, इसलिए समय वेस्ट नहीं करना है”
प्रश्नः- जिन बच्चों का ध्यान रूहानी कमाई में होगा, उनकी निशानी क्या होगी?
उत्तर:- वह कभी भी झरमुई झगमुई में अपना समय बरबाद नहीं करेंगे। शरीर निर्वाह करते हुए भी रूहानी कमाई में समय लगायेंगे। सुबह उठकर बहुत-बहुत प्यार से बाप को याद करेंगे। याद से आत्मा उड़ती रहेगी। 2. वह बाप समान रहमदिल बन अपने ऊपर और सर्व के ऊपर रहम करेंगे। सबको बाप का परिचय देंगे।
गीत:- तुम्हीं हो माता पिता तुम्हीं हो………

ओम् शान्ति। बच्चों ने गीत में मात-पिता की महिमा सुनी, जैसे कोई घर में बच्चे रहते हैं तो मात-पिता, दादा होता है ना। दादे से वर्सा मिलता है – बाप द्वारा, क्योंकि दादे की मिलकियत बड़ों की मिलकियत होती है। तो यह भी सबसे बड़ा है। दुनिया वालों को तो पता ही नहीं। बच्चों को पता है। तुम्हीं हो माता पिता … तो यह दादे के लिए शब्द हैं। तो उनका परिचय देना पड़े। चाहे सम्मुख हो, चाहे चित्रों द्वारा, चाहे प्रोजेक्टर द्वारा तो दादे का परिचय देना बहुत जरूरी है। जिस्मानी दादा साकार होता है। अब तुम्हारी बुद्धि में पहले कौन आया? दादा। भल प्रोजेक्टर द्वारा समझाओ, वह भी नम्बरवार चित्र दिखाना है। पहले-पहले परमपिता परमात्मा की समझानी देनी है। तो परमपिता परमात्मा से तुम्हारा क्या सम्बन्ध है? और फिर प्रजापिता ब्रह्मा से क्या सम्बन्ध है? तो पहले-पहले शिव का चित्र दिखाना चाहिए फिर है लिखत, जो प्रदर्शनी पर समझाते हैं वा मैगजीन भी बनाते हैं तो पहले-पहले परिचय देना है। गीता में लिखा हुआ है भगवानुवाच। तो पहले भगवान का परिचय देना चाहिए। तुम सबकी बुद्धि चली गई है ऊपर। सबसे ऊंचा है परमपिता परमात्मा निराकार शिवबाबा। फिर ब्रह्मा, विष्णु, शंकर फिर यहाँ आओ तो जैसे घर में मात-पिता और दादा बैठे होते हैं। वह है हद का, यह है बेहद का। चित्र सहित सारी लिखते होनी चाहिए। फ़र्क भी बताना चाहिए कि अनेक मनुष्य हठयोग सिखाते आये हैं और एक परमात्मा राजयोग सिखाते हैं, जिससे मुक्ति जीवनमुक्ति मिल रही है। यहाँ है ही एक निराकार परमपिता परमात्मा शिव भगवानुवाच की बात। जैसे लौकिक माँ-बाप, दादा बच्चों की बुद्धि में याद पड़ते हैं। हूबहू तुम्हारी बुद्धि में भी ऐसे है। यह सिर्फ पारलौकिक है, वह है लौकिक। तुमको निश्चय है कि यह है शिवबाबा। हमारा बाप है तो उनको याद करना चाहिए, परन्तु बच्चे भूल जाते हैं। टाइम बहुत वेस्ट करते हैं। वेस्ट टाइम नहीं करना चाहिए क्योंकि विकर्मों का बोझा सिर पर बहुत है। आत्मा में खाद पड़ गई है। तो लिखना चाहिए परमात्मा कौन है? परमात्मा के चित्र और कृष्ण के चित्र पर घड़ी-घड़ी समझाना चाहिए। स्वर्ग और नर्क के गोले बड़े अच्छे मशहूर हैं। नर्क के गोले पर लिख देना चाहिए कि यह है रावण राज्य, भ्रष्टाचारी दुनिया और स्वर्ग के गोले पर लिखो कि यह है श्रेष्ठाचारी दुनिया, तो टाइम लिखना चाहिए स्वर्ग इतना समय, नर्क इतना समय। देखो चढ़ती कला, उतरती कला का भी चित्र है क्योंकि उतरती कला में 5 हजार वर्ष और चढ़ती कला एक सेकेण्ड में, तो यह जम्प हो गया। यह मुख्य बात समझाने की है, फिर है विराट रूप, जिसमें ब्राह्मण चोटी ईश्वरीय सम्प्रदाय हैं। ब्रह्मा मुख द्वारा रचा हुआ तुम्हारा ब्राह्मण कुल मशहूर है, सर्वोत्तम है। तो सबको समझाने के लिए यह चित्र बहुत जरूरी हैं। वैरायटी धर्मों का झाड़ है, वह भी अच्छा है। बच्चों को स्वदर्शन चक्रधारी बनना है। तो चक्र का भी ज्ञान देना है कि चक्र कैसे फिरता है। ब्रह्मा-सरस्वती का हीरो हीरोइन का पार्ट कैसे है। तो गोले का भी चित्र बड़ा होना चाहिए। बहुत में बहुत एक डेढ़ घण्टा प्रोजेक्टर दिखाना चाहिए क्योंकि मनुष्य इन बातों में थक जाते हैं। स्टोरी तो कोई नहीं – यह तो ज्ञान की बात है। पहले जब लिखे तब अन्दर में आ सके। तो दिखाने के लिए टिकट रखना चाहिए। पैसे वाली टिकेट नहीं, परन्तु एन्ट्रीपास हो, बड़े-बड़े आदमियों को तो निमंत्रण दे बुलाना चाहिए क्योंकि बड़ों-बड़ों से ओपीनियन लिखाना है। झुण्ड के झुण्ड में कैसे लिखायेंगे और कैसे दिखायेंगे क्योंकि समझाना भी है इसलिए पहले-पहले बड़े आदमियों को बुलाकर लिखाना है फिर जनरल कर देना चाहिए। प्रदर्शनी में भी ऐसे तो प्रोजेक्टर में भी ऐसे, मैगजीन में भी इन अच्छे-अच्छे चित्रों को बनाकर साथ-साथ समझानी लिखो फिर किसको प्रेजेन्ट दे देना चाहिए। हठयोग और राजयोग का कान्ट्रास्ट भी अच्छी तरह लिखना चाहिए। हठयोग भी एक प्रकार की हिंसा है क्योंकि शरीर को कष्ट देते हैं, तकलीफ देते हैं। तुम्हारा यह है अहिंसक योग जो अति सहज है। चलते-फिरते बाप को याद करते रहो। हिंसक और अहिंसक को भी सिद्ध करना है। कई तो शरीर की तन्दरूस्ती के लिए क्रिया करते हैं। वह कोई फिर परमात्मा से नहीं मिलते, हठयोग को भी योग कह देते हैं। योगाश्रम है ना। यह है फिर सहज राजयोग। ईश्वर का सिखाया हुआ योग। तो यह बहुत अच्छी तरह से समझाना चाहिए। जिनका बुद्धियोग सारा दिन झरमुई, झगमुई में होगा वह क्या समझा सकेंगे। जिनकी बुद्धि में होगा कि सर्विस करनी है, वह करेंगे। 8 घण्टा धन्धा किया फिर यह कमाई करनी चाहिए। वह है जिस्मानी कमाई, यह है रूहानी कमाई। तो इस कमाई में बहुत ध्यान देना चाहिए। योग में बहुत प्रैक्टिस करनी चाहिए। सुबह उठ बाप को बड़े प्यार से याद करना चाहिए। जिनको बाप एक दो नम्बर में रखते, वह भी याद नहीं करते हैं। भाषण तो बहुत अच्छा कर लेते हैं परन्तु याद में नहीं रहते। आत्मा तो याद से ही उड़ेगी, ज्ञान से थोड़ेही उड़ेगी। ध्यान में भी याद से ही जाते हैं। ज्ञान की तो इसमें कोई बात ही नहीं। ध्यान तो एक पाई पैसे की बात हो जाती है। कईयों को तो फट से कृष्ण का साक्षात्कार हो जाता है। कई बच्चियां लिखती हैं कि बाबा हमने आपको पहचाना है। वह ध्यान में ब्रह्मा को भी देखती हैं और प्रेरणा भी मिलती है। तो फिर उनको निश्चय हो जाता है। जिसने बाबा को कभी देखा भी नहीं है वह भी लिखती हैं हम बाबा को बहुत याद करते हैं। हम आपसे वर्सा लेकर ही छोड़ेंगे। आप तो जानते हैं हम याद करते हैं। जब कहती हैं आप… तो शिवबाबा ही याद आता है। तो बांधेली बच्चियां बहुत याद करती हैं, उतना सामने वाले भी याद नहीं करते। एक बात है याद की। फिर गांधी जी कहते थे कि रामराज्य हो। अभी तो रावणराज्य है। इस पर तुम समझा सकते हो। चढ़ती कला तो परमात्मा ही करा सकते हैं। बाकी तो सब एक दो को गिराते ही रहते हैं। देवतायें भी गिरते जाते हैं। भल सुख में ही हैं परन्तु कला तो कम होती जाती है ना। जूँ की तरह गिरते जाते हैं क्योंकि ड्रामा भी जूँ के मिसल चलता ही रहता है। तो चढ़ती कला एक के ही द्वारा होती है। समझाने के लिए प्रोजेक्टर बहुत अच्छा है। सेन्टर भी बहुत बढ़ते जायेंगे। बाबा कहते हैं कि हर एक भाषा में स्लाईड्स बनाते जाओ। परन्तु काम करने वाला ऐसा कोई है नहीं। बाबा युक्ति तो बता देते हैं। परन्तु काम करने वाला चाहिए तो सर्विस बहुत बढ़ सकती है।

बच्चों को अपने भाई-बहिनों पर बहुत रहम करना चाहिए। बाबा रहमदिल है ना। मेरा आना भी भारत में ही होता है, और जगह आना मेरा नहीं होता। शिवजयन्ती भी भारत में मनाई जाती है। परन्तु जानते नहीं हैं, समझो क्राइस्ट की जयन्ती मनाते हैं तो उनके कर्तव्य को जानते हैं। परन्तु शिव का कर्तव्य नहीं जानते। वही पतित-पावन है। भारत बड़े ते बड़ा तीर्थ है। गीता में कृष्ण का नाम डालने से इतने बड़े तीर्थ भारत की महिमा गुम हो गई है। देखो, मुहम्मद गजनवी ने मन्दिर लूटा था, अगर उनको यह मालूम होता कि यह हमारे बाबा का मन्दिर है तो लूटते थोड़ेही। अल्लाह के मन्दिर को कौन लूटेगा, जिसने स्वर्ग की स्थापना की। अगर शिवबाबा को जाने तो कभी मन्दिर को हाथ न लगायें। भल वह शिव को माथा टेकते हैं परन्तु जान गये तो कभी न लूटें। सिर्फ गीता में कृष्ण का नाम डालने से यह सब कुछ हुआ है। गीता खण्डन होने से देखो क्या हाल हुआ है। अगर शिव का नाम होता कि वही गति सद्गति दाता है। यह एक की ही महिमा है। अगर वह न आता तो पावन कैसे बनते? भारत को कैसे स्वर्ग बना सकते। यह गुप्त बात है ना। जानते हैं हम दुर्गति में थे। अब यहाँ बैठे हैं परन्तु जा रहे हैं। बच्चों को बहुत खुशी होनी चाहिए कि हम अपने लिए राजाई स्थापन कर रहे हैं, तो औरों को भी रास्ता दिखाकर प्रजा बनानी चाहिए। बड़ी मेहनत करनी चाहिए। है तो बहुत सहज। सिर्फ बाप और वर्से को याद करो। स्वर्ग को याद करो, यह तो नर्क है। हम सो का अर्थ भी बाबा ने समझाया है, हम सो देवता, हम सो क्षत्रिय…… और कोई तो इन सब बातों को समझते नहीं। तो विराट रूप में यह समझाना है कि हम सो देवता…. बनते हैं। अभी हम स्वर्ग में गये कि गये। बहुत लोग पूछते हैं कितनी देरी है? बाबा कहते हैं तुम अब तैयार कहाँ हुए हो जो स्वर्ग में जा सको। ड्रामा तो बना हुआ है। जितनी-जितनी स्थापना होती जा रही है तो विनाश ज्वाला भी धीरे-धीरे बढ़ती जा रही है। धर्मों में झगड़ा शुरू होता जा रहा है। पहले पार्टीशन थोड़ेही था। तुम जानते हो पहले एक देवता धर्म था। गीत है ना – आप मिले तो हम स्वर्ग का राज्य, योग बल से ले रहे हैं। बाहूबल से कोई ले नहीं सकता। उनके पास बाहुबल है। रशिया, अमेरिका आपस में मिल जाएं तो सारा राज्य ले सकते हैं। परन्तु ऐसा होता नहीं है। जब देवताओं का राज्य है तो वहाँ क्रिश्चयिन, बौद्धी नहीं होते। अब देवता धर्म की स्थापना हो रही है। भारत अविनाशी खण्ड है। बाप भी यहाँ आये हैं ना। ड्रामा में ऐसे ही है कि योगबल से राजाई मिलती है। भारत का प्राचीन योग मशहूर है, परन्तु योग सिखाया किसने और कैसे, वह नहीं जानते। कृष्ण ने तो योग नहीं सिखाया। परमपिता परमात्मा ही योग सिखला रहे हैं। यह कितनी अटपटी बात है जो बुद्धि से खिसक जाती है। कई तो जानते भी छोड़ देते हैं। तब बाप कहते हैं समझदार देखना हो तो यहाँ देखो… समझदार वर्सा लेते हैं। बेसमझ छोड़ देते हैं। स्वर्ग का वर्सा गँवा देते हैं। महान मूर्ख, महान सुजान देखना हो तो यहाँ देखो। स्वर्ग में वह भी जायेंगे परन्तु प्रजा में जायेंगे। तुम जानते हो सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी प्रजा कैसे बनती है। बाप की गोद यहाँ मिलती है। मूलवतन में गोद का हिसाब नहीं है। बच्चा जब पैदा होता है तो गुरू की गोद में देते हैं। समझते हैं गुरू की गोद में नहीं गया तो दुर्गति को पायेगा। छोटे बच्चे को भी गुरू करा देते हैं। गुरू बिगर गति नहीं, यह गुरूओं ने समझाया है। पता नहीं कब शरीर छूट जाए। वहाँ तो जन्म ले फिर गुरू के पास जाते हैं। यहाँ तीनों कम्बाइन्ड हैं। यह कोई शास्त्रों में लिखा नहीं है कि वही बाप टीचर गुरू की गोद है। बाप ने पूछा शिवबाबा को बाप है? कहते हैं हाँ। अच्छा शिवबाबा को टीचर है? गुरू है? नहीं। सिर्फ माँ बाप मिलते हैं। यह गुह्य हिसाब है। बाप बच्चों पर बच्चे बाप पर बलिहार जाते हैं। लौकिक में बच्चे बाप पर बलिहार नहीं जाते हैं, बाप जाते हैं। तो यह समझने की बात है कि बरोबर परमात्मा बाप, टीचर, सतगुरू है, उनसे ही वर्सा मिलता है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) स्वदर्शन चक्रधारी बनना है। हम ब्राह्मण चोटी हैं, ईश्वरीय सम्प्रदाय के हैं, इस नशे में रहना है।

2) अपना समय बाप की याद में सफल करना है। रूहानी सर्विस में बिजी रहना है। बाप पर पूरा-पूरा बलिहार जाना है।

वरदान:- अकालतख्त सो दिलतख्तनशीन बन स्वराज्य के नशे में रहने वाले प्रकृतिजीत, मायाजीत भव 
अकालतख्त नशीन आत्मा सदा रूहानी नशे में रहती है। जैसे राजा बिना नशे के राज्य नहीं चला सकता, ऐसे आत्मा यदि स्वराज्य के नशे में नहीं तो कर्मेन्द्रियों रूपी प्रजा पर राज्य नहीं कर सकती इसलिए अकालतख्त नशीन सो दिलतख्तनशीन बनो और इसी रूहानी नशे में रहो तो कोई भी विघ्न वा समस्या आपके सामने आ नहीं सकती। प्रकृति और माया भी वार नहीं कर सकती। तो तख्तनशीन बनना अर्थात् सहज प्रकृतिजीत और मायाजीत बनना।
स्लोगन:- संकल्पों की सिद्धि प्राप्त करनी है तो आत्म शक्ति की उड़ान भरते रहो।

[wp_ad_camp_5]

To Read Murli 23 October 2017 :- Click Here

BRAHMAKUMARIS DAILY MAHAVAKYA 24 OCTOBER 2017

To Read 23 October Shiv Baba’s Mahavakya :- Click Here

*Om Shanti*
*24.10.2017*

★【 *आज का पुरुषार्थ* 】★

बच्चे, अब तो हर आत्मा शिव बाप के ज्ञान को सुनना और समझना पसन्द करती है।
और वैसे भी ज्ञान को या स्वयं को प्रत्यक्ष करने के लिए ज्यादा वाचा शक्ति की ज़रूरत होती है। परन्तु बाप को प्रत्यक्ष केवल बाप-समान बच्चे ही कर सकते हैं। यही अन्तिम कार्य स्वयं बाप अपने बच्चों के द्वारा करवाने direct आ गया है … और बाप को आप बच्चों पर बहुत उम्मीदें हैं।

बस अब आप बच्चे स्वयं को बाप-समान समझ हर संकल्प करो … अपने संकल्पों में परमात्मा बाप के साथ की शक्ति भर दो, जिससे आपका एक-एक संकल्प समर्थ और powerful हो … आपके powerful संकल्पों से ही सृष्टि परिवर्तन होनी है। इसलिए अपने संकल्पों पर full attention रखो।

जितना-जितना बाप की याद आप बच्चों के अन्दर समाई हुई होगी, उतना ही आपका हर कार्य युक्ति-युक्त होगा। बस बच्चे, अब आपके पास केवल शुभ संकल्प अर्थात् ज्ञान-गुण-शक्तियों से भरपूर संकल्प होने चाहिए …।

बीज powerful हो … और जब उसकी पालना स्वयं भगवान कर रहा हो तो फल, फूल और पत्ते कैसे होंगे…? अर्थात् आप बच्चों के एक-एक कर्म और बोल बहुत सुखदाई होंगे…।

बस, स्वयं को बाप की श्रीमत प्रमाण चलाने का पुरूषार्थ करते रहो … alert होकर पुरूषार्थ करना। 
फिर बहुत थोड़े से थोड़े समय में प्राप्तियाँ शुरू हो जायेंगी।

अच्छा । ओम् शान्ति ।

【 *Peace Of Mind TV* 】
Tata Sky # 1065 | Airtel # 678 | Videocon # 497 | Reliance # 640 | 
Jio TV |

Font Resize