25 november ki murli

TODAY MURLI 25 NOVEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 25 November 2020

25/11/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, in order to claim the highest-on-high status, remain intoxicated on the pilgrimage of remembrance. This is the spiritual gallows; your intellects should be tied to your home.
Question: What is a sign of those whose intellects are not able to imbibe knowledge?
Answer: They become upset over trivial matters. The more knowledge someone’s intellect is able to imbibe, the more happiness he will experience. When your intellect has the knowledge that the world now has to go down and that there will be loss through that, you will never become upset; you will remain constantly happy.

Om shanti. The spiritual Father sits here and explains to the sweetest, spiritual children. You children understand that God is called the Highest on High. The intellects’ yoga of souls should go to the home. However, there isn’t a single human being in the world whose intellect is aware of this. Even sannyasis don’t consider the brahm element to be their home; they say that they want to merge into the brahm element, and so that cannot be the home. One lives in a home. The intellects of you children should remain there. Just as people are hung on gallows, so, you too are now climbing the spiritual gallows. Internally, you are aware that the Highest-on-High Father comes and takes you to the highest-on-high home. We now have to return home. The Highest-on-High Baba is enabling us to claim the highest-on-high status. In the kingdom of Ravan, all are degraded. Those people are elevated whereas these are degraded. They are not aware of being the highest. Even those who were the highest don’t know anything about those who are the lowest. You now understand that only the one God is called the Highest on High. Your intellects go upwards. He is the Resident of the supreme place (paramdham). No one understands that we souls are also residents of that place. We come here simply to play our parts. This doesn’t enter anyone’s thoughts. They remain engrossed in their own business. The Father now explains: You will become the highest on high when you remain intoxicated on the pilgrimage of remembrance. It is by having remembrance that you have to claim a high status. You mustn’t forget the knowledge that you are being taught. Even little children are able to relate it. However, children won’t understand the aspect of yoga. Many children are not fully able to understand the pilgrimage of remembrance. We are going so high! There is the incorporeal world, the subtle region and the corporeal world. The five elements exist here. They don’t exist in the subtle region or in the incorporeal world. Only the Father gives this knowledge and this is why He is called the Ocean of Knowledge. People believe that studying many scriptures is to learn knowledge. They earn so much money. Those who read the scriptures receive so much respect. However, you now understand that there is no greatness in that. Only the one God is the Highest on High. Through Him, we become the rulers of the highest-on-high heaven. What is heaven and what is hell? How does the cycle of 84 births turn? No one in the world, apart from you, knows this. They simply say that all of this is imagination. You have to understand that such people don’t belong to this clan; you mustn’t become disheartened. It is understood that it is not in their parts and so they will not be able to understand anything. You children now hold your heads very high. When you are in the highest world you will not be aware of the lowest world. Those of the lowest world will not know those of the highest world. That is called heaven. Although people abroad are not able to go to heaven, they do mention the names of heaven and Paradise. Those of Islam speak of Bahist (heaven), but they don’t know how they can go there. You have now received so much understanding. The highest-on-high Father is giving us so much knowledge. This drama is created in a wonderful way. Those who don’t understand the secrets of the drama say that this is imagination. You children know that this world is impure. This is why people call out: O Purifier, come and make us pure. The Father says: History repeats every 5000 years. The old world has to become new and this is why I have to come. I come every cycle and make you children the highest on high. Those who are pure are said to be the highest and those who are impure are said to be the lowest. This world was new and pure; it is now impure. You also understand these things, numberwise. Those who keep these things in their intellects are able to remain constantly happy. If this isn’t in their intellects, then, when someone says something or there is some loss, they become upset. Baba says: This degraded world now has to end. This is the old world. People have become so degraded. However, no one considers himself to be so degraded. Devotees always bow their heads. You don’t bow your heads to someone who is degraded. You bow your heads to someone who is pure. You never do that in the golden age. Only devotees do that. The Father doesn’t tell you to walk with your head bowed. No, this is a study. You are studying in the Godfatherly University, and so you should have so much intoxication! It shouldn’t be that you experience intoxication while at the University and that the intoxication is then lost when you get home. You should have this intoxication at home as well. Here, you children know that Shiv Baba is teaching you. This one says: I am not the Ocean of Knowledge. This Baba is not the Ocean of Knowledge. Rivers emerge from the ocean. There is just the one ocean and the Brahmaputra is the biggest river. Many big steamers enter the ocean. There are many rivers everywhere else too. It is only here that they speak of the Purifier Ganges. They never say this of any of the rivers abroad. If the river were the purifier, there would then be no need to adopt a guru. People stumble so much to rivers and lakes! In some places the lakes are so dirty, don’t even ask! They take the muddy sand from there and rub it on themselves. It has now entered your intellects that all of those are methods to come down. Those people go there with so much love. You now understand that your eyes have been opened with this knowledge. Your third eyes of knowledge have now opened. When a soul has received the third eye, he is called trikaldarshi. The soul has the knowledge of all three aspects of time. A soul is just a point; how could you show a soul with eyes? All of these matters have to be understood. When you have the third eye of knowledge you become trikaldarshi and trilokinath; from atheists you become theists. Previously, you did not know the Creator or the beginning, middle or end of creation. By coming to know the beginning, the middle and the end of creation from the Father, you are now receiving the inheritance. This is knowledge. There is also the history and geography and the accounts too. Achcha, if a child is clever, he can work out how many births we take and, according to that, how many births those of other religions take. However, the Father says: Don’t beat your head too much over those matters. Your time would be wasted. Here, you have to forget everything. There is no need to speak about those things. You give the recognition of the Father, the Creator, whom no one knows. Shiv Baba only comes in Bharat. He surely comes and does something; this is why they celebrate His birthday. Because Gandhi and other holy men etc. have been and gone, they have made stamps of them. They also make stamps for family planning. You now have the intoxication that you belong to the Pandava Government. This is the Government of Almighty Baba. This is your coat of arms. No one else knows this coat of arms. You understand that you have intellects full of love at the time of destruction. We remember the Father a great deal. By remembering the Father we have tears of love. Baba, You remove all our sorrow for half the cycle. There is no need to remember any other gurus or friends or relatives etc. Simply remember the one Father. The early morning time is very good. Baba, it is Your great wonder! You awaken us every 5000 years. All human beings are sleeping in the devilish sleep of Kumbhakarna, that is, they are in the darkness of ignorance. You now understand that this is the ancient yoga of Bharat. Everything else that they teach, like hatha yoga etc., is just exercise in order to keep the body healthy. You now have all the knowledge in your intellects and so you remain happy. You come here and you understand how Baba refreshes you. Some become refreshed but then, as soon as they go out, that intoxication finishes; it is numberwise. Baba explains: This world is impure. People call out: “O Purifier, come”, but they don’t consider themselves to be impure. That is why they go to wash away their sins. However, it is not the body that accumulates sin. The Father comes and purifies you and says: Constantly remember Me alone and your sins will be absolved. You have now received this knowledge. Bharat was heaven and it is now hell. You children are now at the confluence age. When someone falls into vice, he fails, and so it is as though he has fallen into hell. He falls from the fifth floor and then has to experience one hundred-fold punishment. So, the Father explains: Bharat was so elevated and it is now so degraded. You are now becoming so sensible. Human beings are so senseless. Baba makes you so intoxicated here, but, as soon as you go out, that intoxication decreases and the happiness flies away. When a student passes a difficult examination, does his intoxication decrease? He studies and passes and becomes something great. Look at the condition of the world now! The Highest-on-High Father comes and teaches you. He is incorporeal. You souls are also incorporeal; you have come here to play your parts. Only the Father comes and explains the secrets of the drama. This world cycle is also called a drama. When someone falls ill in those plays, they can leave. This is an unlimited play. It is in the intellects of you children in an accurate way. You know that you come here to play your parts. We are unlimited actors. We take bodies and play parts. Baba has come. All of this should be your intellects. The unlimited drama should be in your intellects. You receive the unlimited sovereignty of the world. Therefore, you also need to make effort accordingly. You may live at home with your families, but you do have to remain pure. There are many people abroad who get married in their old age for companionship, for someone to look after them. They then leave a will. They leave something for their companion and something to charity. There is no question of vice there. A lover and beloved do not surrender themselves to one another for vice. They simply have love for the physical. You are spiritual lovers and you remember the one Beloved. There is the one Beloved of all of you lovers. All of you remember that One. He is so beautiful! That soul is beautiful; He is everbeautiful. You have now become ugly and so He changes you from ugly to beautiful. You know that the Father is making you beautiful. Here, there are so many that one doesn’t even know with what thoughts they are sitting here. It is the same in a school. While sitting there, their intellects are diverted towards films and friends or other directions. It is the same at spiritual gatherings. It is the same here too. This doesn’t sit in their intellects and so they don’t experience that intoxication and are unable to imbibe or inspire others to imbibe. Many daughters want to engage themselves in doing service, but they have young children too. Baba says: Employ a maid to look after the children. You can bring benefit to many. If you are clever, why should you not engage yourself in doing spiritual service? Employ a maid to look after your five or six children. It is now the turn of the mothers. You should have a lot of intoxication. If you are ahead, your husband will think that his wife has gone ahead and even defeated the sannyasis. You mothers will definitely glorify the name of the lokik and the Parlokik. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Remove everything from your intellect. There is no need to listen to or relate things that waste your time.
  2. At the time of studying, your intellect should be connected in yoga with the one Father. The intellect should not wander anywhere. Maintain the intoxication that the incorporeal Father is teaching you.
Blessing: May you be a world server who remains stable in an unlimited stage and detached and loving in doing service.
A world server is one who remains stable in an unlimited stage. Such a server would always be detached while serving and be loving to the Father. They would not be attached to service because attachment to service is a golden chain. That bondage takes you from the unlimited into the limited. Therefore, you have to be detached from awareness of bodies, from Godly relationships, from any facilities of service and be loving to the Father and you will then receive the blessing of being a world server and constantly continue to receive success.
Slogan: Have rehearsals of putting a stop to waste thoughts in a second and you will become powerful.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 25 NOVEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 25 November 2020

Murli Pdf for Print : – 

25-11-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – ऊंच ते ऊंच पद पाना है तो याद की यात्रा में मस्त रहो – यही है रूहानी फाँसी, बुद्धि अपने घर में लटकी रहे”
प्रश्नः- जिनकी बुद्धि में ज्ञान की धारणा नहीं होती है, उनकी निशानी क्या होगी?
उत्तर:- वह छोटी-छोटी बातों में रंज (नाराज़) होते रहेंगे। जिसकी बुद्धि में जितना ज्ञान धारण होगा उतनी उसे खुशी रहेगी। बुद्धि में अगर यह ज्ञान रहे कि अभी दुनिया को नीचे जाना ही है, इसमें नुकसान ही होना है, तो कभी रंज नहीं होंगे। सदा खुशी रहेगी।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चों प्रति रूहानी बाप बैठ समझाते हैं। बच्चे समझते हैं ऊंच ते ऊंच भगवान कहा जाता है। आत्मा का बुद्धियोग घर की तरफ जाना चाहिए। परन्तु ऐसा एक भी मनुष्य दुनिया में नहीं है, जिसको यह बुद्धि में आता हो। संन्यासी लोग भी ब्रह्म को घर नहीं समझते वह तो कहते हम ब्रह्म में लीन हो जायेंगे तो घर थोड़ेही हुआ। घर में ठहरना होता है। तुम बच्चों की बुद्धि वहाँ रहनी चाहिए। जैसे कोई फाँसी पर चढ़ता है ना – तुम अब रूहानी फाँसी पर चढ़े हुए हो। अन्दर में है हमको ऊंच ते ऊंच बाप आकर ऊंच ते ऊंच घर ले चलते हैं। अब हमको घर जाना है। ऊंच ते ऊंच बाबा हमको फिर ऊंच ते ऊंच पद प्राप्त कराते हैं। रावण राज्य में सब नीच हैं। वह ऊंच यह नींच। उन्हों को ऊंच का पता ही नहीं है। ऊंच वालों को भी नींच का पता नहीं रहता। अभी तुम समझते हो ऊंच ते ऊंच एक भगवान को ही कहा जाता है। बुद्धि ऊपर में चली जाती है। वह है ही परमधाम में रहने वाला। यह कोई भी नहीं समझते हैं, हम आत्मायें भी वहाँ की रहने वाली हैं। यहाँ आते हैं सिर्फ पार्ट बजाने। यह कोई के ख्याल में नहीं रहता। अपने ही धन्धे धोरी में लगे रहते हैं। अब बाप समझाते हैं ऊंच ते ऊंच तब बनेंगे जब याद की यात्रा में मस्त रहेंगे। याद से ही ऊंच पद पाना है। नॉलेज जो तुमको सिखलाई जाती है, वह भूलने की नहीं है। छोटे बच्चे भी वर्णन करेंगे। बाकी योग की बात को बच्चे नहीं समझेंगे। बहुत बच्चे हैं जो याद की यात्रा पूरी रीति समझते नहीं हैं। हम कितना ऊंच ते ऊंच जाते हैं। मूलवतन, सूक्ष्मवतन, स्थूल वतन…. 5 तत्व यहाँ हैं। सूक्ष्मवतन, मूलवतन में यह नहीं होते। यह नॉलेज बाप ही देते हैं इसलिए उनको ज्ञान का सागर कहा जाता है। मनुष्य समझते हैं – बहुत शास्त्र आदि पढ़ना ही ज्ञान है। कितना पैसा कमाते हैं। शास्त्र पढ़ने वालों को कितना मान मिलता है। परन्तु अब तुम समझते हो इसमें कोई ऊंचाई तो है नहीं। ऊंच ते ऊंच तो है ही एक भगवान। उनके द्वारा हम ऊंच ते ऊंच स्वर्ग में राज्य करने वाले बनते हैं। स्वर्ग क्या है, नर्क क्या है? 84 का चक्र कैसे फिरता है? यह सिवाए तुम्हारे इस सृष्टि में कोई भी नहीं जानते हैं, कह देते हैं यह सब कल्पना है। ऐसे के लिए समझना है – यह हमारे कुल का नहीं है। दिलशिकस्त नहीं होना चाहिए। समझा जाता है – इनका पार्ट नहीं है, तो कुछ भी समझ नहीं सकेंगे। अभी तुम बच्चों का सिर बहुत ऊंच है। जब तुम ऊंच दुनिया में होंगे तो नींच दुनिया को नहीं जानेंगे। नींच दुनिया वाले फिर ऊंच दुनिया को नहीं जानते। उनको कहा ही जाता है स्वर्ग। विलायत वाले भल स्वर्ग में जाते नहीं हैं फिर भी नाम तो लेते हैं, हेविन पैराडाइज़ था। मुसलमान लोग भी बहिश्त कहते हैं। परन्तु यह उनको पता नहीं है कि वहाँ कैसे जाना होता है। अभी तुमको कितनी समझ मिलती है, ऊंच ते ऊंच बाप कितनी नॉलेज देते हैं। यह ड्रामा कैसा वन्डरफुल बना हुआ है। जो ड्रामा के राज़ को नहीं जानते वह कल्पना कह देते हैं।

तुम बच्चे जानते हो – यह तो है ही पतित दुनिया, इसलिए चिल्लाते हैं – हे पतित-पावन आकर हमको पावन बनाओ। बाप कहते हैं हर 5 हज़ार वर्ष बाद हिस्ट्री रिपीट होती है। पुरानी दुनिया सो नई बनती है इसलिए मुझे आना पड़ता है। कल्प-कल्प आकर तुम बच्चों को ऊंच ते ऊंच बनाता हूँ। पावन को ऊंच और पतित को नींच कहा जाता है। यही दुनिया नई पावन थी, अभी तो पतित है। यह बातें तुम्हारे में भी नम्बरवार हैं जो समझते हैं। जिनकी बुद्धि में यह बातें रहती हैं वह सदा खुश रहते हैं। बुद्धि में नहीं है तो कोई ने कुछ कहा, कुछ नुकसान हुआ तो रंज हो जाते हैं। बाबा कहते हैं अब इस नींच दुनिया का अन्त आना है। यह है पुरानी दुनिया। मनुष्य कितना नींच बन जाते हैं। परन्तु यह कोई समझते थोड़ेही हैं कि हम नींच हैं। भक्त लोग हमेशा सिर झुकाते हैं, नींच के आगे सिर झुकाना थोड़ेही होता है। पवित्र के आगे सिर झुकाना होता है। सतयुग में कभी ऐसा नहीं होता। भक्त लोग ही ऐसा करते हैं। बाप तो ऐसा नहीं कहते – सिर झुकाकर चलो। नहीं, यह तो पढ़ाई है। गॉड फादरली युनिवर्सिटी में तुम पढ़ रहे हो। तो कितना नशा रहना चाहिए। ऐसे नहीं, सिर्फ युनिवर्सिटी में नशा रहे, घर में उतर जाए। घर में नशा रहना चाहिए। यहाँ तो तुम बच्चे जानते हो शिवबाबा हमको पढ़ाते हैं। यह तो कहते हैं कि मैं थोड़ेही ज्ञान सागर हूँ। यह बाबा भी ज्ञान का सागर नहीं है। सागर से नदी निकलती है ना। सागर तो एक है, ब्रह्मपुत्रा सबसे बड़ी नदी है। बहुत बड़े स्टीमर्स आते हैं। नदियाँ तो बाहर भी बहुत हैं। पतित-पावनी गंगा यह सिर्फ यहाँ ही कहते हैं। बाहर में कोई भी नदी को ऐसे नहीं कहेंगे। पतित-पावनी नदी है फिर तो गुरू की कोई दरकार नहीं। नदियों में, तलाव में कितना भटकते हैं। कहाँ तो तलाव ऐसे गन्दे होते हैं, बात मत पूछो। उसकी मिट्टी उठाकर रगड़ते रहते हैं। अब बुद्धि में आया है – यह सब नीचे उतरने के रास्ते हैं। वो लोग कितना प्रेम से जाते हैं। अब तुम समझते हो कि इस ज्ञान से हमारी आंखें ही खुल गई। तुम्हारी ज्ञान की तीसरी आंख खुली है। आत्मा को तीसरा नेत्र मिलता है इसलिए त्रिकालदर्शी कहते हैं। तीनों कालों का ज्ञान आत्मा में आता है। आत्मा तो बिन्दी है, उसमें नेत्र कैसे होगा। यह सब समझने की बातें हैं। ज्ञान के तीसरे नेत्र से तुम त्रिकालदर्शी, त्रिलोकीनाथ बनते हो। नास्तिक से आस्तिक बन जाते हो। आगे तुम रचयिता और रचना के आदि-मध्य-अन्त को नहीं जानते थे। अभी बाप द्वारा रचना के आदि-मध्य-अन्त को जानने से तुमको वर्सा मिल रहा है। यह नॉलेज है ना। हिस्ट्री-जॉग्राफी भी है, हिसाब-किताब है ना। अच्छा, तीखा बच्चा हो तो हिसाब करे, हम कितने जन्म लेते हैं, इस हिसाब से और धर्म वालों के कितने जन्म होंगे। परन्तु बाप कहते हैं इन सब बातों में जास्ती माथा मारने की दरकार नहीं है। टाइम वेस्ट हो जायेगा। यहाँ तो सब भूलना है। यह सुनाने की दरकार नहीं। तुम तो रचता बाप की पहचान देते हो, जिसको कोई जानते नहीं। शिवबाबा भारत में ही आते हैं। जरूर कुछ करके जाते हैं तब तो जयन्ती मनाते हैं ना। गांधी अथवा कोई साधू आदि होकर गये हैं, उन्हों के स्टैम्प बनाते रहते हैं। फैमली प्लैनिंग की स्टैम्प बनाते हैं। अभी तुमको तो नशा है – हम तो पाण्डव गवर्मेन्ट हैं। आलमाइटी बाबा की गवर्मेन्ट है। तुम्हारा यह कोट ऑफ आर्मस है। और कोई इस कोट ऑफ आर्मस को जानते ही नहीं। तुम समझते हो कि विनाश काले प्रीत बुद्धि हमारी ही है। बाप को हम बहुत याद करते हैं। बाप को याद करते-करते प्रेम में आंसू आ जाते हैं। बाबा, आप हमें आधाकल्प के लिए सब दु:खों से दूर कर देते हो। और कोई गुरू वा मित्र-सम्बन्धी आदि किसको भी याद करने की दरकार नहीं। एक बाप को ही याद करो। सवेरे का टाइम बहुत अच्छा है। बाबा आपकी तो बड़ी कमाल है। हर 5 हज़ार वर्ष बाद हमें आप जगाते हो। सभी मनुष्य मात्र कुम्भकरण की आसुरी नींद में सोये हुए हैं अर्थात् अज्ञान अन्धेरे में हैं। अभी तुम समझते हो – भारत का प्राचीन योग तो यह है, बाकी जो भी इतने हठयोग आदि सिखलाते हैं, वह सभी हैं – एक्सरसाइज़, शरीर को तन्दरूस्त रखने के लिए। अभी तुम्हारी बुद्धि में सारा ज्ञान है तो खुशी रहती है। यहाँ आते हो, समझते हो बाबा रिफ्रेश करते हैं। कोई तो यहाँ रिफ्रेश हो बाहर निकलते हैं, वह नशा खलास हो जाता है। नम्बरवार तो हैं ना। बाबा समझाते हैं – यह है पतित दुनिया। बुलाते भी हैं-हे पतित-पावन आओ परन्तु अपने को पतित समझते थोड़ेही हैं, इसलिए पाप धोने जाते हैं। लेकिन शरीर को थोड़ेही पाप लगता है। बाप तो आकर तुम्हें पावन बनाते हैं और कहते हैं मामेकम् याद करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। यह ज्ञान अभी तुमको मिला है। भारत स्वर्ग था, अभी नर्क है। तुम बच्चे तो अभी संगम पर हो। कोई विकार में गिरते हैं तो फेल होते हैं तो जैसे नर्क में जाकर गिर पड़ते हैं। 5 मंजिल से गिर पड़ते हैं, फिर 100 गुणा सज़ा खानी पड़ती है। तो बाप समझाते हैं कि भारत कितना ऊंच था, अब कितना नींच है। अब तुम कितना समझदार बनते हो। मनुष्य तो कितने बेसमझ हैं। बाबा तुमको यहाँ कितना नशा चढ़ाते हैं, फिर बाहर निकलने से नशा कम हो जाता है, खुशी उड़ जाती है। स्टूडेण्ट कोई बड़ा इम्तहान पास करते हैं तो कभी नशा कम होता है क्या? पढ़कर पास होते हैं फिर क्या-क्या बन जाते हैं। अभी देखो दुनिया का क्या हाल है। तुमको ऊंच ते ऊंच बाप आकर पढ़ाते हैं। सो भी है निराकार। तुम आत्मायें भी निराकार हो। यहाँ पार्ट बजाने आई हो। यह ड्रामा का राज़ बाप ही आकर समझाते हैं। इस सृष्टि चक्र को ड्रामा भी कहा जाता है। उस नाटक में तो कोई बीमार पड़ते हैं तो निकल जाते हैं। यह है बेहद का नाटक। यथार्थ रीति तुम बच्चों की बुद्धि में है, तुम जानते हो हम यहाँ पार्ट बजाने लिए आते हैं। हम बेहद के एक्टर्स हैं। यहाँ शरीर लेकर पार्ट बजाते हैं, बाबा आया हुआ है – यह सब बुद्धि में होना चाहिए। बेहद का ड्रामा कितना बुद्धि में रहना चाहिए। बेहद विश्व की बादशाही मिलती है तो उसके लिए पुरुषार्थ भी ऐसा अच्छा करना चाहिए ना। गृहस्थ व्यवहार में भी भल रहो परन्तु पवित्र बनो। विलायत में ऐसे बहुत हैं जब बूढ़े होते हैं तो फिर कम्पेनियनशिप के लिए शादी करते हैं….. सम्भालने के लिए फिर विल करते हैं। कुछ उनको, कुछ चैरिटी को। विकार की बात नहीं रहती है। आशिक-माशूक भी विकार के लिए फिदा नहीं होते हैं। जिस्म का सिर्फ प्यार रहता है। तुम हो रूहानी आशिक, एक माशूक को याद करते हो। सब आशिकों का एक माशूक है। सभी एक को ही याद करते हैं। वह कितना शोभनिक है। आत्मा गोरी है ना। वह है एवर गोरा। तुम तो सांवरे बन गये हो, तुमको वह सांवरे से गोरा बनाते हैं। यह तुम जानते हो कि बाप हमें गोरा बनाते हैं। यहाँ बहुत हैं जो पता नहीं किस-किस ख्यालात में बैठे रहते हैं। स्कूल में ऐसे होता है – बैठे-बैठे कहाँ बुद्धि बाइसकोप तरफ, दोस्तों आदि तरफ चली जाती है। सतसंग में भी ऐसे होता है। यहाँ भी ऐसे है, बुद्धि में नहीं बैठता तो नशा ही नहीं चढ़ता, धारणा ही नहीं होती – जो औरों को करायें। बहुत बच्चियां आती हैं, जिनकी दिल होती है सर्विस में कहाँ लग जायें परन्तु छोटे-छोटे बच्चे हैं। बाबा कहते हैं बच्चों को सम्भालने के लिए कोई माई को रख दो। यह तो बहुतों का कल्याण करेंगी। होशियार हैं तो क्यों नहीं रूहानी सर्विस में लग जायें। 5-6 बच्चों को सम्भालने के लिए कोई माई को रख दो। इन माताओं की अब बारी है ना। नशा बहुत रहना चाहिए। आगे होगा, पुरूष देखेंगे कि हमारी स्त्री ने तो संन्यासियों को भी जीत लिया है। यह मातायें लौकिक, पारलौकिक का नाम बाला करके दिखायेंगी। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) तुम्हें बुद्धि से सब कुछ भूलना है। जिन बातों में टाइम वेस्ट होता है, वह सुनने-सुनाने की दरकार नहीं है।

2) पढ़ाई के समय बुद्धियोग एक बाप से लगा रहे, कहाँ भी बुद्धि भटकनी नहीं चाहिए। निराकार बाप हमें पढ़ा रहे हैं, इस नशे में रहना है।

वरदान:- बेहद की स्थिति में स्थित रह, सेवा के लगाव से न्यारे और प्यारे विश्व सेवाधारी भव
विश्व सेवाधारी अर्थात् बेहद की स्थिति में स्थित रहने वाले। ऐसे सेवाधारी सेवा करते हुए भी न्यारे और सदा बाप के प्यारे रहते हैं। सेवा के लगाव में नहीं आते क्योंकि सेवा का लगाव भी सोने की जंजीर है। यह बंधन बेहद से हद में ले आता है इसलिए देह की स्मृति से, ईश्वरीय सम्बन्ध से, सेवा के साधनों के लगाव से न्यारे और बाप के प्यारे बनो तो विश्व सेवाधारी का वरदान प्राप्त हो जायेगा और सदा सफलता मिलती रहेगी।
स्लोगन:- व्यर्थ संकल्पों को एक सेकण्ड में स्टॉप करने की रिहर्सल करो तो शक्तिशाली बन जायेंगे।

 

TODAY MURLI 25 NOVEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 25 November 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 24 November 2018 :- Click Here

25/11/18
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
01/03/84

The Account of One.

Today, Baba is pleased to see all the easy yogi and constantly co-operative children. All the Father’s children who have come from all directions constantly have one faith and one Support. They follow the directions of One and are constant and stable. They sing praise of the One alone. They fulfil the responsibility of all relationships with the One. They always remain with the One. They all belong to the one family of God and all have the same aim and the same qualifications. They see everyone with the same pure and elevated good wishes. They constantly enable everyone to fly high with the same elevated pure desire. They all belong to the one world and experience all attainment in this one world. As soon as they open their eyes, they only see the one Baba. Whilst performing every action, they only have one Baba as their Companion. When coming to the end of the day and ending their karma yoga and service, they become absorbed in the love of One; they become merged in the love of One, that is, they become merged in the lap of love of the One. Their whole timetable is around spending the day and the night with the One. Whilst coming into connection with others in terms of service or as a family, whilst seeing all the many, they see just the One. This is the family of the one Father and the one Father has made them instruments for service. They come into connections and relationships with others in this way and see the One in the many. In this Brahmin life, in the life of playing a hero part, in the life of passing with honours, what is the one thing that you have to learn? The account of One. That’s all! When you know the One, you know everything. You have then attained everything. To write One, to learn about the One and to remember the One is the easiest of all.

In Bharat, they have a saying: “Don’t speak of three or five. Simply speak of One.” It becomes difficult to speak of three or five. To remember One and to know One is extremely easy. So, what do you learn here? You learn the lesson of One. Multimillions are merged in the One. This is why BapDada shows you the easy path of One. Know the importance of One and become great. All the expansion is merged in the One. All knowledge is included in this, is it not? You doubleforeigners now know the One very well, do you not? Achcha. Today, Baba has come just to give regard to you children. In welcoming you, Baba has told you the account of One.

Today, BapDada has just come to meet you all. Nevertheless, for the sake of the long-lost and now-found children who came yesterday and today, Baba has spoken something. BapDada knows how, out of love, you find so many different ways and make so much effort to come here. Because of your efforts, you children have with you the Father’s multi-million fold love. This is why BapDada is welcoming all of you children with love and golden versions. Achcha.

To all the children everywhere who are merged in love, to all the children who are friends of the heart and who remain absorbed in love, to the children who always sing songs of the one Father, to the companion children who always fulfil the responsibility of love, BapDada’s love, remembrance and namaste.

BapDada’s chit-chat with brothers and sisters from abroad – 03/03/84:

Double-foreign” means those who constantly experience the land of the self and the sweet home. You are constant residents of that land, the ones who reside in the sweet home and have come to this land abroad, to a foreign kingdom to establish self-sovereignty, that is, to establish the soul-conscious kingdom, the kingdom of happiness and have taken the support of nature (matter) in order to play your parts in an incognito way. You are residents of the land of the self, you are playing your parts in a foreign land. This is the land of matter. The original land is the land of souls. Matter is now under the influence of Maya. It is Maya’s kingdom and this is why it has become a foreign land. When you become a conqueror of Maya, this matter will become your server and give you happiness. When you become a conqueror of Maya and a conqueror of matter, it will become your kingdom of happiness, the satopradhan kingdom and the golden world. Do you have this awareness clearly? You simply have to change your costume in a second. You have to renounce the old costume and adopt a new one. How long will it take? It takes just as long to become a deity from an angel as it does to change your costume. You will also do this via the sweet home. However, at the end, you will have the awareness that you are now about to change from an angel to a deity. Do you have any awareness of the deity body, the deity life, the deity world and the time of satopradhan matter? Do the sanskars of the kingdom you have had many times, and the deity life with which you are filled, emerge? Because, until the sanskars emerge in you who are to become deities, how would the golden world emerge in the corporeal form? By your thoughts emerging, the deity world will be revealed on this earth. Do these thoughts emerge automatically by themselves? Or, do you feel that there is still a lot more time? Your deity bodies are invoking you deity souls. Can you see your deity bodies? When will you adopt them? Your heart is not attached to the old body, is it? You aren’t wearing your old tight costume, are you? You are still wearing your old body, your old costume, which you are unable to renounce in a second at the relevant time. To be free from bondage means to wear a loose dress. So what do the double-foreigners prefer: loose or tight? You don’t like tight, do you? You don’t have any bondage, do you?

Are you yourself ever ready? Put time aside. Don’t look at the time: this is now to happen; this is yet to happen. Time knows and the Father knows. Service knows and the Father knows. Are you content with service of the self? Put aside world service; look at yourself. Are you content with yourself in your own stage and in your own independent kingdom? Are you able to rule your own kingdom well? Are all your workers, all your ministers and senior ministers under your control? There isn’t any dependency, is there? Do your own ministers and senior ministers sometimes deceive you? Sometimes, internally, your own workers don’t secretly become companions of Maya, do they? In your own kingdoms, is the ruling power and the controlling power of you kings working accurately? It isn’t that you order pure thoughts to come but waste thoughts come instead, is it? That you order the virtue of tolerance and the defect of upheaval comes instead, is it? O self-sovereigns, are all your powers and virtues under your control? They are companions in your kingdom. So, are they all under your control? When kings issue an order, everyone says, “Yes, my Lord” (“Ji hazoor”) in a second and salutes the king. So, do you also have such controlling power and ruling power? Are you ever ready in this? Your own weaknesses and your own bondages do not deceive you, do they?

Today, BapDada is asking you self-sovereigns about the welfare of the kingdom of the self. All of you sitting here are kings, are you not? You are not subjects, are you? To be dependent on something means to be a subject. To have all rights means to be a king. So, who are all of you? Are you Raja Yogis or praja yogis (subjects)? The court of all kings is held now, is it not? In the court of the kingdom of the golden age, you will have forgotten everything. You won’t recognise one another as the same confluence-aged souls. It is now that you become trikaldarshi and know and see one another. Each one’s court of the kingdom now is even more elevated than that of the golden age. Only at the confluence age does such a royal court exist. So, the condition of everyone’s kingdom is fine, is it not? You didn’t say loudly that everything is fine!

BapDada too loves this royal court. Nevertheless, check yourself every day. Hold your royal court every day. If any one of your workers became even a little careless, what would you do? Would you sack him? All of you have heard about the divine activities of the beginning, have you not? If a small child was being mischievous, what punishment was he given? To stop his food or tie him with string was a common thing, but the punishment given was for him to sit in solitude for many hours. He was a child and children can’t sit still. Therefore, his punishment for him to sit in one place for four to five hours without moving at all was a big thing! So they were given such royal punishment! Therefore, here, too, if any of your workers cause mischief, make them sit in the furnace (bhatthi) of introversion. You mustn’t become extroverted. Punish them in this way. If any come out, send them back in. Children do this, don’t they? When you make children sit down, they still do whatever they want and you then make them sit down again. Therefore, in this way, you will develop the habit of becoming introverted from extroverted. A habit is instilled in little children: Sit down and remember Baba. That child will not want to sit down, but you will again and again make the child sit down. No matter how much the child moves his legs, you would still say: No, sit like this. In this way, make them sit in the bhatthi of the practice of introversion by tying them properly with thoughts of determination. You don’t have to tie them with any other string, for the thought of determination is itself the string. Make them sit in the bhatthi of the practice of introversion. Punish yourself. What would happen when others give you punishment? If others tell you that these workers of yours are not good and you should therefore punish them, what would you do? You would feel a little like this: “What is this one talking about?” However, if you yourself give yourself punishment, it remains for all time. By others telling you, it won’t remain for all time. Until you have made the signals from others your own, they won’t last all the time. Do you understand?

How are you kings? You are enjoying the royal court, are you not? All of you are great kings, are you not? You are not small kings, you are great kings. Achcha. Today, seeing the double foreigners, Father Brahma especially had a chit-chat. Baba will tell you about that later. Achcha.

To the souls who are constantly conquerors of Maya, conquerors of matter and those who have a right to self-sovereignty, to those who always use the treasures of virtues and all powers by right, to those who, with self-sovereignty, make all their workers into their loving companions for all time, to those who are constantly free from bondage and remain ever ready, to the contented souls, BapDada’s love, remembrance and namaste.

BapDada meeting a group from Australia:

You are souls who receive blessings from BapDada and all souls by constantly keeping a balance of remembrance and service, are you not? It is a speciality of Brahmin life that, together with making effort, you always receive blessings and also continue to make progress. These blessings work in Brahmin life like a lift. You will continue to experience the flying stage through these.

Why does BapDada have special love for the residents of Australia? Because each one of you always has the courage and enthusiasm to bring many others. The Father loves this speciality because it is also the Father’s task to enable the maximum number of souls to receive their right to the inheritance. Therefore, the children who follow the Father are especially loved. As soon as you come, you have great enthusiasm. This is a blessing that the land of Australia has received. One becomes an instrument for many. BapDada continues to turn the beads of the rosary of the virtues of each child. Australia has a lot of specialities. However, Maya too loves those from Australia a lot more. Those who are loved by the Father also become loved by Maya. So many good ones, even if only for a short time, have become Maya’s, have they not? None of you are weak like them, are you? You are not going to get caught in any spinning, are you? BapDada remembers those children even now. What happens is that, because of not understanding something fully, they have questions of “Why?” and “What?” So, the door for Maya to enter opens. You now know the door for Maya, do you not? So, don’t get caught up in “Why?” or What?” and Maya won’t then receive a chance to come in. Always put on the double lock. Remembrance and service is the double lock. Just service by itself is a single lock. If there is just remembrance and no service, that too is just a single lock. Let there be a balance of the two. This is the double lock. Your photograph is being taken on BapDada’s TV. Later, BapDada will show you: Look, you are in this picture! Achcha. With your courage and your faith, there is still a good number. You are very much loved by the Father and this is why Baba told you the way to remain safe from Maya.

Blessing: May you be a destroyer of attachment and an embodiment of remembrance who puts a full stop in a second with the power to pack up.
At the end, the question in the final paper will be: Put a full stop in a second ! Let nothing else be remembered, but just “The Father and me, and no third thing”. In a second, you belong to the Father, “My Baba and none other”. It takes time to think it, but you have to become stable in that stage and not fluctuate at all. Let there be no questions of “Why?” or “What?” for only then will you become a destroyer of attachment and an embodiment of remembrance. So, practise coming into expansion when you want and packing up everything when you want. Let your brake be powerful.
Slogan: Those who have no arrogance of their self-respect are always humble.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 25 NOVEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 25 November 2018

To Read Murli 24 November 2018 :- Click Here
25-11-18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 01-03-84 मधुबन

एक का हिसाब

आज सर्व सहजयोगी, सदा सहयोगी बच्चों को देख हर्षित हो रहे हैं। सर्व तरफ से आये हुए बाप के बच्चे एक बल एक भरोसा, एक मत, एकरस, एक ही के गुण गाने वाले, एक ही के साथ सर्व सम्बन्ध निभाने वाले, एक के साथ सदा रहने वाले, एक ही प्रभु परिवार के एक लक्ष्य, एक ही लक्षण, सर्व को एक ही शुभ और श्रेष्ठ भावना से देखने वाले, सर्व को एक ही श्रेष्ठ शुभ कामना से सदा ऊंचा उड़ाने वाले, एक ही संसार, एक ही संसार में सर्व प्राप्ति का अनुभव करने वाले, आंख खोलते ही एक बाबा! हर एक काम करते एक साथी बाबा, दिन समाप्त करते, कर्मयोग वा सेवा का कार्य समाप्त करते एक के लव में लीन हो जाते, एक के साथ लवलीन बन जाते अर्थात् एक के स्नेह रूपी गोदी में समा जाते। दिन रात एक ही के साथ दिनचर्या बिताते। सेवा के सम्बन्ध में आते, परिवार के सम्बन्ध में आते फिर भी अनेक में एक देखते। एक बाप का परिवार है, एक बाप ने सेवा प्रति निमित्त बनाया है। इसी विधि से अनेकों के सम्बन्ध-सम्पर्क में आते, अनेक में भी एक देखते। ब्राह्मण जीवन में, हीरो पार्टधारी बनने की जीवन में, पास विद् आनर बनने की जीवन में, सिर्फ सीखना है तो क्या? एक का हिसाब। बस एक को जाना तो सब कुछ जाना। सब कुछ पाया। एक लिखना, सीखना, याद करना, सबसे सरल सहज है।

वैसे भी भारत में कहावत है तीन-पाँच की बातें नहीं करो। एक की बात करो। तीन-पाँच की बातें मुश्किल होती हैं, एक को याद करना, एक को जानना अति सहज है। तो यहाँ क्या सीखते हो? एक ही सीखते हो ना। एक में ही पदम समाए हुए हैं। इसीलिए बापदादा सहज रास्ता एक का ही बताते हैं। एक का महत्व जानो और महान बनो। सारा विस्तार एक में समाया हुआ है। सब ज्ञान आ गया ना। डबल फारेनर्स तो एक को अच्छी तरह जान गये हैं ना। अच्छा- आज सिर्फ आये हुए बच्चों को रिगार्ड देने के लिए, स्वागत करने के लिए एक का हिसाब सुना दिया।

बापदादा आज सिर्फ मिलने के लिए आये हैं। फिर भी सिकीलधे बच्चे जो आज वा कल आये हैं उन्हों के निमित्त कुछ न कुछ सुना लिया। बापदादा जानते हैं कि स्नेह के कारण कैसे मेहनत कर आने के साधन जुटाते हैं। मेहनत के ऊपर बाप की मुहब्बत पदमगुणा बच्चों के साथ है इसीलिए बाप भी स्नेह और गोल्डन वरशन्स से सभी बच्चों का स्वागत कर रहे हैं। अच्छा-

सर्व चारों ओर के स्नेह में लवलीन बच्चों को, सर्व लगन में मगन रहने वाले मन के मीत बच्चों को, सदा एक बाप के गीत गाने वाले बच्चों को, सदा प्रीति की रीति निभाने वाले साथी बच्चों को बापदादा का याद-प्यार और नमस्ते।

डबल विदेशी बच्चों से बापदादा की रुह-रिहान – 3-3-84

डबल विदेशी अर्थात् सदा स्वदेश, स्वीट होम का अनुभव करने वाले। सदा मैं स्वदेशी, स्वीट होम का रहने वाला, परदेश में, परराज्य में स्वराज्य अर्थात् आत्मिक राज्य और सुख का राज्य स्थापन करने गुप्त रूप से प्रकृति का आधार ले पार्ट बजाने के लिए आये हैं। हैं स्वदेशी, पार्ट परदेश में बजा रहे हैं। यह प्रकृति का देश है। स्व-देश आत्मा का देश है। अभी प्रकृति माया के वश में है, माया का राज्य है, इसलिए परदेश हो गया। यही प्रकृति आपके मायाजीत होने से आपकी सुखमय सेवाधारी बन जायेगी। माया-जीत, प्रकृतिजीत होने से अपना सुख का राज्य, सतोप्रधान राज्य, सुनहरी दुनिया बन जायेगी। यह स्पष्ट स्मृति आती है ना? सिर्फ सेकण्ड में चोला बदली करना है। पुराना छोड़ नया चोला धारण करना है। कितनी देर लगेगी? फरिश्ता सो देवता बनने में सिर्फ चोला बदली करने की देरी लगेगी। वाया स्वीट होम भी करेंगे लेकिन स्मृति अन्त में फरिश्ता सो देवता बने कि बने, यही रहेगी। देवताई शरीर की, देवताई जीवन की, देवताओं के दुनिया की, सतोप्रधान प्रकृति के समय की स्मृति रहती है? भरे हुए संस्कार अनेक बार के राज्य के, देवताई जीवन के इमर्ज होते हैं? क्योंकि जब तक आप होवनहार देवताओं के संस्कार इमर्ज नहीं होंगे तो साकार रूप में सुनहरी दुनिया इमर्ज कैसे होगी। आपके इमर्ज संकल्प से देवताई सृष्टि इस भूमि पर प्रत्यक्ष होगी। संकल्प स्वत: ही इमर्ज होता है या अभी समझते हो बहुत देरी है? देवताई शरीर आप देव आत्माओं का आह्वान कर रहे हैं। दिखाई दे रहे हैं अपने देवताई शरीर? कब धारण करेंगे? पुराने शरीर से दिल तो नहीं लग गई है? पुराना टाइट वस्त्र तो नहीं पहना हुआ है? पुराना शरीर, पुराना चोला पड़ा हुआ है, जो समय पर सेकण्ड में छोड़ नहीं सकते। निर्बन्धन अर्थात् लूज़ ड्रेस पहनना। तो डबल विदेशियों को क्या पसन्द होता है – लूज वा टाइट? टाइट तो पसन्द नहीं है ना! बन्धन तो नहीं है?

अपने आप से एवररेडी हो! समय को छोड़ो, समय नहीं गिनती करो। अभी यह होना है, यह होना है, वह समय जाने बाप जाने। सेवा जाने बाप जाने। स्व की सेवा से सन्तुष्ट हो? विश्व सेवा को किनारे रखो, स्व को देखो। स्व की स्थिति में, स्व के स्वतंत्र राज्य में, स्वयं से सन्तुष्ट हो? स्व की राजधानी ठीक चला सकते हो? यह सभी कर्मचारी, मंत्री, महामंत्री सभी आपके अधिकार में हैं? कहाँ अधीनता तो नहीं है? कभी आपके ही मंत्री, महामंत्री धोखा तो नहीं देते? कहाँ अन्दर ही अन्दर गुप्त अपने ही कर्मचारी माया के साथी तो नहीं बन जाते हैं? स्व के राज्य में आप राजाओं की रूलिंग पावर कन्ट्रोलिंग पावर यथार्थ रूप से कार्य कर रही है? ऐसे तो नहीं कि आर्डर करो शुभ संकल्प में चलना है और चलें व्यर्थ संकल्प। आर्डर करो सहनशीलता के गुण को और आवे हलचल का अवगुण। सभी शक्तियां, सभी गुण, हे स्व राजे, आपके आर्डर में हैं? यही तो आपके राज्य के साथी हैं। तो सभी आर्डर में हैं? जैसे राजे लोग आर्डर करते और सभी सेकण्ड में जी हजूर कर सलाम करते हैं, ऐसे कन्ट्रोलिंग पावर, रूलिंग पावर है? इसमें एवररेडी हो? स्व की कमजोरी, स्व का बन्धन धोखा तो नहीं देगा?

आज बापदादा स्वराज्य अधिकारियों से स्व के राज्य का हाल-चाल पूछ रहे हैं! राजे बैठे हो ना? प्रजा तो नहीं हो ना? किसी के अधीन अर्थात् प्रजा, अधिकारी अर्थात् राजा। तो सभी कौन हो? राजे। राजयोगी या प्रजा योगी? सभी राजाओं की दरबार लगी हुई है ना? सतयुग के राज्य सभा में तो भूल जायेंगे, एक दो को पहचानेंगे नहीं कि हम वही संगमयुगी हैं। अभी त्रिकालदर्शी बन एक दो को जानते हो, देखते हो। अभी का यह राज्य दरबार सतयुग से भी श्रेष्ठ है। ऐसी राज्य दरबार सिर्फ संगमयुग पर ही लगती है। तो सबके राज्य का हालचाल ठीक है ना? बड़े आवाज से नहीं बोला कि ठीक है!

बापदादा को भी यह राज्य सभा प्रिय लगती है। फिर भी रोज़ चेक करना, अपनी राज्य दरबार रोज़ लगाकर देखना अगर कोई भी कर्मचारी थोड़ा भी अलबेला बने तो क्या करेंगे? छोड़ देंगे उसको? आप सबने शुरू के चरित्र सुने हैं ना! अगर कोई छोटे बच्चे चंचलता करते थे, तो उनको क्या सजा देते थे? उसका खाना बन्द कर देना या रस्सी से बांध देना – यह तो कामन बात है लेकिन उसको एकान्त में बैठने की ज्यादा घण्टा बैठने की सजा देते थे। बच्चे हैं ना, बच्चे तो बैठ नहीं सकते। तो एक ही स्थान पर बिना हलचल के 4-5 घण्टा बैठना उसकी कितनी सज़ा है। तो ऐसी रॉयल सज़ा देते थे। तो यहाँ भी कोई कर्मेन्द्रिय ऐसे वैसे करे तो अन्तर्मुखता की भट्ठी में उसको बिठा दो। बाहरमुखता में आना ही नहीं है, यही उसको सजा दो। आये फिर अन्दर कर दो। बच्चे भी करते हैं ना। बच्चों को बिठाओ फिर ऐसे करते हैं, फिर बिठा देते हैं। तो ऐसे बाहरमुखता से अन्तर्मुखता की आदत पड़ जायेगी। जैसे छोटे बच्चों की आदत डालते हैं ना – बैठो, याद करो। वह आसन नहीं लगायेंगे फिर-फिर आप लगाकर बिठायेंगे। कितनी भी वह टाँगे हिलावे तो भी उसको कहेंगे नहीं, ऐसे बैठो। ऐसे ही अन्तर्मुखता के अभ्यास की भट्ठी में अच्छी तरह से दृढ़ता के संकल्प से बाँधकर बिठा दो। और रस्सी नहीं बाँधनी है लेकिन दृढ़ संकल्प की रस्सी, अन्तर्मुखता के अभ्यास की भट्ठी में बिठा दो। अपने आपको ही सजा दो। दूसरा देगा तो फिर क्या होगा? दूसरे अगर आपको कहें यह आपके कर्मचारी ठीक नहीं हैं, इसको सजा दो। तो क्या करेंगे? थोड़ा-सा आयेगा ना – यह क्यों कहता! लेकिन अपने आपको देंगे तो सदाकाल रहेंगे। दूसरे के कहने से सदाकाल नहीं होगा। दूसरे के इशारे को भी जब तक अपना नहीं बनाया है तब तक सदाकाल नहीं होता, समझा!

राजे लोग कैसे हो? राज्य दरबार अच्छी लग रही है ना! सब बड़े राजे हो ना! छोटे राजे तो नहीं, बड़े राजे। अच्छा- आज ब्रह्मा बाप खास डबल विदेशियों को देख रूह-रूहान कर रहे थे। वह फिर सुनायेंगे। अच्छा – सदा मायाजीत, प्रकृतिजीत, राज्य अधिकारी आत्मायें, गुणों और सर्व शक्तियों के खजानों को अपने अधिकार से कार्य में लगाने वाले, सदा स्वराज्य द्वारा सर्व कर्मचारियों को सदा के स्नेही साथी बनाने वाले, सदा निर्बन्धन, एवररेडी रहने वाले, सन्तुष्ट आत्माओं को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

आस्ट्रेलिया ग्रुप से:- सदा याद और सेवा का बैलेन्स रखने वाले बापदादा और सर्व आत्माओं द्वारा ब्लैसिंग लेने वाली आत्मायें हो ना! यही ब्राह्मण जीवन की विशेषता है जो सदा पुरुषार्थ के साथ-साथ ब्लैसिंग लेते हुए बढ़ते रहें। ब्राह्मण जीवन में यह ब्लैसिंग एक लिफ्ट का काम करती है। इस द्वारा उड़ती कला का अनुभव करते रहेंगे।

आस्ट्रेलिया निवासियों से बापदादा का विशेष स्नेह हैं क्यों? क्योंकि सदा एक अनेकों को लाने की हिम्मत और उमंग में रहते हैं। यह विशेषता बाप को भी प्रिय है क्योंकि बाप का भी कार्य है – ज्यादा से ज्यादा आत्माओं को वर्से का अधिकारी बनाना। तो फालो फादर करने वाले बच्चे विशेष प्रिय होते हैं ना। आने से ही उमंग अच्छा रहता है। यह एक आस्ट्रेलिया की धरनी को जैसे वरदान मिला हुआ है। एक अनेकों के निमित्त बन जाता है। बापदादा तो हर बच्चे के गुणों की माला सिमरण करते रहते हैं। आस्ट्रेलिया की विशेषता भी बहुत है लेकिन आस्ट्रेलिया वाले माया को भी थोड़ा ज्यादा प्रिय हैं। जो बाप को प्रिय होते हैं, वह माया को भी प्रिय हो जाते हैं। कितने अच्छे-अच्छे थोड़े समय के लिए ही सही लेकिन माया के बन तो गये हैं ना। आप सब तो ऐसे कच्चे नहीं हो ना! कोई चक्र में आने वाले तो नहीं हो? बापदादा को अभी भी वह बच्चे याद हैं। सिर्फ क्या होता है – किसी भी बात को पूरा न समझने के कारण क्यों और क्या में आ जाते हैं, तो माया के आने का दरवाजा खुल जाता है। आप तो माया के दरवाजे को जान गये हो ना। तो न क्यों क्या में जाओ और न माया को आने का चांस मिले। सदा डबल लाक लगा रहे। याद और सेवा ही डबल लाक है। सिर्फ सेवा सिंगल लाक है। सिर्फ याद, सेवा नहीं तो भी सिंगल लाक है। दोनों का बैलेन्स – यह है डबल लाक। बापदादा की टी.वी. में आपका फोटो निकल रहा है, फिर बापदादा दिखायेंगे देखो इस फोटो में आप हो। अच्छा – फिर भी संख्या में हिम्मत से, निश्चय से अच्छा नम्बर है। बाप को ज्यादा प्रिय लगते हो इसलिए माया से बचने की युक्ति सुनाई। अच्छा- ओम् शान्ति।

वरदान:- समेटने की शक्ति द्वारा सेकण्ड में फुलस्टाप लगाने वाले नष्टोमोहा स्मृति स्वरूप भव 
लास्ट में फाइनल पेपर का क्वेश्चन होगा – सेकण्ड में फुलस्टाप। और कुछ भी याद न आये। बस बाप और मैं, तीसरी कोई बात नहीं..सेकण्ड में मेरा बाबा दूसरा न कोई … यह सोचने में भी समय लगता है लेकिन टिक जाएं, हिलें नहीं। क्यों, क्या.. का कोई क्वेश्चन उत्पन्न न हो तब नष्टोमोहा स्मृति स्वरूप बनेंगे। इसलिए अभ्यास करो जब चाहें विस्तार में आयें और जब चाहें समेट लें। ब्रेक पावरफुल हो।
स्लोगन:- जिसे स्वमान का अभिमान नहीं है वही सदा निर्माण है।

TODAY MURLI 25 NOVEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 25 NOVEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 24 November 2017 :- Click Here

25/11/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, your spiritual pilgrimage is very incognito. You have to continue to keep the yoga of your intellect on this pilgrimage. Only by doing this do you earn an income.
Question: What are the signs of children who stay on the pilgrimage of remembrance?
Answer: 1) They are very mature, serious and sensible. They always remain peaceful. 2) They do not have any impure arrogance. 3) They do not like anything except remembrance of the Father. 4) They speak very little and very softly. They perform every action through signals. They do not speak or laugh loudly. 5) Their behaviour is very, very royal. They have the intoxication of being the children of God. 6) They live with one another with a lot of love. They never become like salt water. Their way of speaking is very first class.
Song: O traveller of the night, do not become weary! The destination of dawn is not far off.

Om shanti. You children know that you are travellers of the night. However, it is not that you connect your intellects in yoga only at night or that you travel at night; no. This is an unlimited matter. Those physical pilgrimages only take place during the day; they don’t travel at night. At night, they all go to sleep. You and the Father know this pilgrimage, that is, the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, and you incorporeal souls know it. At this moment, the Supreme Father, the Supreme Soul, is sitting in this body and teaching you this pilgrimage. Neither has anyone heard of this in the scriptures nor can any of the scholars or pundits teach it. This pilgrimage can be undertaken at night or even at amrit vela; it can be at any time. Devotees wake up in the morning and sit in their special little rooms and perform their worship. You are told that the pilgrimage of remembrance is also better in the early morning. This is the spiritual pilgrimage. You children have become soul conscious. To have the faith that you are a soul is not like going to your aunty’s home! You repeatedly forget this. There are many who don’t know this pilgrimage; it doesn’t sit in their intellects. Once they have started out on a pilgrimage, they should constantly remain on it. You don’t stop when you are on a pilgrimage. To stop means you don’t have the interest to go on the pilgrimage. Yours is an incognito pilgrimage. This is not mentioned in any of the scriptures. The more your intellects stay in yoga on the pilgrimage and the more you continue to remember the Father, the more income you will earn. Your intellects race in yoga to the Father. You have to become soul conscious for this. You have been body conscious for half the cycle. You have to end that habit of half the cycle in this one birth. This is not an ordinary spiritual gathering where you listen to scriptures. You are sitting here while considering yourselves to be souls and remembering the Father. Then, you also have to follow the Father’s directions that He gives you through Brahma Baba. You have to have very good qualities too. You mustn’t have devilish traits. In that, the first number is impure arrogance and all other vices also follow it. So, the practice of having the faith that you are a soul requires great effort. Many are unable to make this effort. Why? It is not in their fortune. What are the signs of those who stay on this pilgrimage? They are very mature and sensible. They don’t like anything except remembrance of the Father. Many people like silence. Sannyasis even go and stay in solitude in the forests, but they remain in remembrance of the brahm element. That pilgrimage is false because the element of brahm is not the Almighty Authority Father. The Father of souls is only the one incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva, to whom all souls call out. A soul never says: O Brahm Baba! O Baba Element! No. A soul always says: O Supreme Father, Supreme Soul! He has to have a name. The element of brahm is the great element, a place of residence. The Father says: To say “brahm gyani” or “brahm yogi” is an illusion. Someone said it and others accepted it. On the path of devotion, all the paths they show are false and this is why they cannot become soul conscious. They have said that the soul is the Supreme Soul and so with whom could they have yoga? The Father says: All of that knowledge is false, that is, it is not knowledge at all. There are the two terms: knowledge and devotion. For half the cycle there is knowledge and for half the cycle there is devotion. The Father comes and explains that there is only talk of devotion in those scriptures. Knowledge is something different. For half the cycle there is knowledge which means the golden and silver ages, the day. Then, for half the cycle there is devotion, that is, there is the night, the copper and iron ages. Even scholars and teachers don’t know such easy things. They have no power left at all. You say that the Supreme Father, the Supreme Soul, is teaching you. Those people say that He is omnipresent. How would He teach you? You have to beat your heads a great dealA young girl wrote the news: A businessman asked her: Have you studied the scriptures? She replied: God has explained the essence of the scriptures to us. We have no other guru. So he began to give his own dictates, saying that we must definitely study the scriptures and do this and that. She just continued to listen to him. However, you have to have courage in order to explain to eminent people. Tell them: That is fine. We have to study the Vedas and scriptures, but the versions of God are: No one can meet Me by studying them. No one can attain liberation or liberation-in-life through those. This is the first thing to explain. What is your connection with the Supreme Father, the Supreme Soul? Although you may be the mayor, I am just asking you one thing. Then, see what response he gives. Everyone has forgotten the Father. Therefore, first of all, give His introduction. However, children forget such things; they don’t follow shrimat. The first shrimat says: Remember Me! Simply remember Me, even if it is for an hour or half an hour. Some children don’t remember Me for even five minutes. All of this can be known from their qualities. If they were remembering God, their behaviour would be very royal. You children have never seen kings, but this chariot of Baba’s is very experienced; he knows everyone. When a Maharaja (great king) would want to buy a piece of jewellery, he would come to Baba, simply touch it and then leave and his secretary would then come and negotiate its purchase. Therefore, they have so much protocol. You are incognito, but your behaviour should be very royal. You should speak very little. Why? We have to go from ‘talkie  to the subtle and from the subtle to the incorporeal world. On the path of devotion they cry out a great deal; they sing songs. Here, you mustn’t make any sound at all. You have the knowledge inside you that you are souls. Very few days remain here. You now have to return home. Shiv Baba speaks so little. He simply signals: Remember Me and your inheritance. Talk no evil, see no evil… At many centres very good BKs speak and laugh so loudly, don’t even ask! Baba continues to explain to you. You need to have so much love here. In the golden age, the lion and the lamb drink water together. Here, there has to be a lot of love. We are God’s children and our behaviour has to be very royal. We are the children of the Supreme Father, the Supreme Soul. We are following shrimat and claiming our unlimited inheritance. If you don’t follow shrimat, you are doing so much disservice. That is why it takes a lot of time. Your way of speaking has to be very first class. Children in school are numberwise. Some study very well and some are third class. Poor children have a lot of love. Fifty poor ones but only one wealthy one would come. Why? Baba is the Lord of the Poor. Mama was poor, but she went ahead of Baba. She received a lift. Baba entered this one – this too is a lift. You children have to become soul conscious. You also have to learn manners. Only then will your mercury of happiness rise. The Father says: You have to become full of all virtues, 16 celestial degrees full, completely viceless, pure souls. When you come to this one, first remember Shiv Baba and then come. You have to remember Shiv Baba. This one was a village urchin. This is the world of orphans, the world of chokre (boys) who cause sorrow. ‘Cho kire’ is translated (from Sindhi) as: Why have they fallen? Maya made them fall. Baba tells you the reason: You people of Bharat were the masters of heaven. So then, why did you fall? You forgot Me, the Father. Now, remember Me and you will be able to climb up. The main thing is to remember the Father. Listen to and relate the things of knowledge! Do service ! Mama also used to do service. Baba cannot go to many places. Children earn an income and so they are the ones who do service. Baba has to stay in one place. Everyone has to come here to be refreshed. Those who come to Madhuban receive many points from Baba, the Ocean. There is a difference. Even though there are very good children at the centres, they have to come here. Baba explains very well. Many very good children are like salt water with each other, and so what would they teach others? They don’t even speak to one another. They defame the name so much. Therefore, Baba speaks a murli so that perhaps the children’s eyes can open. However, Brahmin teachers don’t meet among themselves. They don’t even speak to one another! This is a very high destination. Baba says: I come to make you into the masters of the world. There are no weapons etc. here. There is no question of expense either. Simply remember Baba and imbibe divine virtues. Speak very sweetly among yourselves. Give everyone points of knowledge. This is your only business. Explain the significance of the Gita through these pictures. Those people sing songs of devotion: O Purifier, come! Come and purify us! The God of the Gita did come and He purified you. You know that the God of the Gita is once again changing you from an ordinary human into Narayan, from human beings into deities. However, examine the virtues in yourselves! For some, it is as though telling lies is their number one religion. You children must not cause the slightest sorrow. Those who cause sorrow for others are worse than animals. They say one thing through their mouths but they live like salt water with one another and so they do a lot of disservice. This is said to be the eclipse of Maya. When there are bad omens over some, they cause defamation. The bad omens of some last for a short time whereas the bad omens of others are not removed until the end. Therefore, children, you have to remain busy in service. Baba, I cannot stay without doing service ! Send me somewhere! Baba will not allow anyone who doesn’t know how to do service to go anywhere. Baba will see whether someone has an interest in doing service. Some say: Baba, I have an interest in doing this particular type of service, and so Baba sends them there. What status would you claim without doing service? Your service is to change human beings into deities. You have to ask: What is your relationship with the Supreme Father, the Supreme Soul? Baba has given a direction to those from Kurukshetra to put up big boards. Definitely put up these posters at the fairs and everyone will think, “Yes, you are asking the right question and this is something good.” The guides there are such that they spoil your head. It has been seen that not a lot of service can take place on pilgrimages. Many understand this knowledge but then say: If we began to explain this knowledge, our income would end. So many of our followers would say that we have become attracted to the BKs. You need great wisdom and far-sightedness in this. The greatness is of Shiv Baba. You have to follow His shrimat. A very good intellect is needed in knowledge. You have to follow shrimat. Many have arrogance and think that there is no one like them. Some are such buddhus that they think, “Who is Brahma anyway? Just as I am a student, Brahma is also a student. I am clever in some points and perhaps Brahma would be clever in some points.” However, Mama and Baba must surely be the cleverest of all. Why do you oppose them? Many develop arrogance. Baba says: O traveller of the night, do not become weary! Let go of your monkey business! Otherwise, there will be punishment. You have to imbibe divine virtues. You must never give anyone wrong directions and break their intellects’ yoga. Those who gossip and tell tales give wrong directions. This is also mentioned in the scriptures. There is one Rama and all the rest are Sitas. The behaviour of you children has to be very divine. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. The true Father has come to make you truthful. Therefore, never tell lies. Always remain honest and truthful. Never cause anyone sorrow.
  2. Only speak about things of knowledge with your mouth. Let your way of speaking be first class. Don’t give anyone wrong directions and then tell tales.
Blessing: May you be a conqueror of Maya and a conqueror of matter who benefits the self and everyone in the benevolent age.
In this benevolent age, together with the benevolent Father, you children are also benevolent. Your challenge is that you are the world transformers. People of the world can only see destruction and this is why they think that this is the time of not being benevolent, but you have the establishment as well as destruction clearly in front of you. So, you have the good wishes and in your minds that there now has to be benefit for all. Those who benefit not only human souls but also nature are said to be conquerors of matter and conquerors of Maya. For them, matter becomes a bestower of happiness.
Slogan: Those who perform actions while being loving and detached are able to put a full stop to their thoughts in a second.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 25 NOVEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 25 November 2017

November 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 23 November 2017 :- Click Here
25/11/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम्हारी रूहानी यात्रा बहुत गुप्त है जो तुम्हें बुद्धियोग से करते रहना है, इसमें ही कमाई है”
प्रश्नः- याद की यात्रा पर रहने वाले बच्चों की निशानी क्या होगी?
उत्तर:- वह बहुत गम्भीर और समझदार होंगे। सदा शान्तचित रहेंगे। 2- उनमें अशुद्ध अहंकार नहीं होगा। 3- उन्हें सिवाए एक बाप की याद के और कोई भी बात अच्छी नहीं लगेगी। 4- वह बहुत कम और धीरे बोलेंगे। वह हर काम ईशारे से करेंगे। जोर से बोलेंगे वा हसेंगे नहीं। 5- उनकी चलन बहुत-बहुत रॉयल होगी। उन्हें नशा होगा कि हम ईश्वरीय सन्तान हैं। 6- आपस में बहुत प्यार से रहेंगे। कभी लूनपानी नहीं होंगे। उनकी वाचा बहुत फर्स्टक्लास होगी।
गीत:- रात के राही…

ओम् शान्ति। बच्चे जानते हैं कि हम रात के राही हैं। परन्तु ऐसे नहीं कि तुम कोई रात्रि को ही बुद्धियोग लगाते हो वा मुसाफिरी पर हो, नहीं। यह तो बेहद की बात है। वो जिस्मानी यात्रा सिर्फ दिन में ही होती है। रात्रि को नहीं जाते हैं। रात्रि को तो सब सो जाते हैं। इस यात्रा को तो तुम जानो अथवा बाप जाने अर्थात् निराकार परमपिता परमात्मा जाने और निराकारी आत्मायें ही जानें। अभी परमपिता परमात्मा शरीर में बैठ यह यात्रा सिखलाते हैं। यह कभी न कोई शास्त्र में सुना, न कोई विद्वान पण्डित सिखला सकते हैं। यह यात्रा रात को भी, अमृतवेले भी हर समय हो सकती है। भक्त लोग सवेरे उठकर कोठरी में बैठ जाते हैं। पूजा करते हैं। तुमको भी कहा जाता है कि सवेरे याद की यात्रा अच्छी होगी। यह है रूहानी यात्रा। बच्चे देही-अभिमानी बने हैं। हम आत्मा हैं, यह निश्चय करना भी मासी का घर नहीं है। घड़ी-घड़ी भूल जाते हैं। बहुत बच्चे हैं जो इस यात्रा को जानते भी नहीं हैं। बुद्धि में बैठता ही नहीं है। अगर यात्रा पर चला हुआ है तो नित्य यात्रा करते रहे ना। यात्रा में फिर ठहरना थोड़ेही होता है। ठहर जाते हैं अर्थात् यात्रा करने का शौक नहीं है। तुम्हारी है गुप्त यात्रा, इनका वर्णन कोई शास्त्र में नहीं है। जितना यात्रा पर बुद्धि योग रहेगा अर्थात् बाप को याद करते रहेंगे उतना कमाई होगी। बुद्धि का योग दौड़ी पहनता है – बाप के पास, इसमें आत्म-अभिमानी बनना है। आधाकल्प तुम देह-अभिमानी बने हो। वह आधाकल्प की आदत तुमको इस एक जन्म में मिटानी है अथवा खत्म करनी है। यह कोई वह सतसंग नहीं है शास्त्र सुनने का। तुम बैठे हो अपने को आत्मा समझ बाप को याद करते हो। फिर बाप की मत पर भी चलना है, जो मत बाबा ब्रह्मा द्वारा दे रहे हैं। फिर लक्षण भी अच्छे रखने हैं। शैतानी लक्षण नहीं होने चाहिए। उसमें भी जो पहला नम्बर अशुद्ध अहंकार है उनके बाद सब और विकार आते हैं। तो अपने को आत्मा निश्चय करना, यह अभ्यास बड़ी मेहनत का है। बहुतों से यह मेहनत पहुँचती नहीं है। क्यों? तकदीर में नहीं है। इस यात्रा पर रहने वाले की निशानी क्या होगी? वह बड़े गम्भीर और समझदार रहते हैं। एक बाप की याद के सिवाए उनको और कोई बात अच्छी नहीं लगेगी। शान्ति तो बहुत लोग पसन्द करते हैं। सन्यासी लोग भी एकान्त में जंगल आदि में जाकर रहते हैं। परन्तु वह तत्व अथवा ब्रह्म की याद में रहते हैं। वह यात्रा तो है झूठी क्योंकि ब्रह्म अथवा तत्व कोई सर्वशक्तिमान बाप तो है नहीं। आत्माओं का बाप तो एक ही निराकार परमपिता परमात्मा शिव है, जिसको सब आत्मायें पुकारती हैं। आत्मा ऐसे कब नहीं कहती, हे ब्रह्म बाबा, हे तत्व बाबा। नहीं। आत्मा सदैव कहती है हे परमपिता परमात्मा, उनका नाम चाहिए। ब्रह्म तो महतत्व रहने का स्थान है। बाप कहते हैं ब्रह्म ज्ञानी वा ब्रह्म योगी कहना यह भ्रम है। कोई ने कह दिया और मान लिया। भक्ति में सब झूठा रास्ता बताते हैं, इसलिए देही-अभिमानी बन नहीं सकते। आत्मा सो परमात्मा कह दिया तो फिर योग किससे लगायें। बाप कहते हैं यह सब मिथ्या ज्ञान है अर्थात् ज्ञान ही नहीं है। ज्ञान और भक्ति दो अक्षर आते हैं। आधाकल्प ज्ञान और आधाकल्प भक्ति चलती है। बाप आकर समझाते हैं कि इन शास्त्र आदि में भक्ति का ही वर्णन है। ज्ञान अलग चीज़ है, आधाकल्प ज्ञान सतयुग त्रेता दिन। आधाकल्प भक्ति यानी रात द्वापर कलियुग। ऐसी सहज बातें भी विद्वान आचार्य नहीं जानते। बिल्कुल ताकत नहीं रही है। तुम कहते हो परमपिता परमात्मा हमको पढ़ाते हैं। वो लोग कहते वह सर्वव्यापी है। पढ़ायेंगे कैसे? बहुत माथा मारना पड़ता है। एक बच्ची ने समाचार लिखा – एक सेठ ने प्रश्न पूछा तुम शास्त्र पढ़ी हो? उसने कहा परमात्मा ने हमको शास्त्रों का सार समझाया है। हमारा दूसरा गुरू है नहीं। तो वह अपनी तीक-तीक करने लगा कि शास्त्र जरूर पढ़ना चाहिए। यह करना चाहिए। वह सुनती रही। परन्तु बड़े आदमियों को समझाने की हिम्मत चाहिए। कहना चाहिए कि यह ठीक है। वेद शास्त्र पढ़ना है परन्तु भगवानुवाच – कि इन्हें पढ़ने से मेरे साथ कोई मिल नहीं सकते, मुक्ति-जीवनमुक्ति पा नहीं सकते। पहली बात यह समझानी चाहिए – परमपिता परमात्मा के साथ आपका क्या सम्बन्ध है? भल आप नगर सेठ हो सिर्फ एक बात आपसे पूछते हैं? देखना चाहिए क्या जवाब देते हैं क्योंकि बाप को सब भूले हुए हैं। तो पहले परिचय देना पड़े। परन्तु बच्चे ऐसी-ऐसी बातें भूल जाते हैं। श्रीमत पर चलते नहीं। पहले श्रीमत कहती है कि मुझे याद करो। एक घण्टा आधा घण्टा सिर्फ याद जरूर करो। कई बच्चे सारे दिन में 5 मिनट भी याद नहीं करते। यह सब लक्षणों से पता लग जाता है। अगर याद करते हो तो चलन बड़ी रॉयल होनी चाहिए। बच्चों ने राजाओं को कब देखा नहीं है। यह बाबा का रथ तो बहुत अनुभवी है। सबको जानते हैं। कोई जेवर आदि लेने होंगे तो महाराजा आयेगा – सिर्फ हाथ लगाया और गये फिर पोट्री आपेही बात करेंगे। तो उन्हों का कितना दबदबा रहता है। तुम गुप्त हो परन्तु बड़ा रॉयल्टी से चलना चाहिए। बिल्कुल थोड़ा बोलना चाहिए। क्यों? हमको टाकी से सूक्ष्म, सूक्ष्म से मूल में जाना है। भक्तिमार्ग में बहुत रड़ियां मारते हैं। गीत गाते हैं। यहाँ तुमको आवाज बिल्कुल नहीं करना चाहिए। अन्दर में यह ज्ञान है कि हम आत्मा हैं। यहाँ बाकी थोड़े रोज़ हैं। अब जाना है। शिवबाबा कितना थोड़ा बोलते हैं सिर्फ ईशारा देते हैं कि मुझे और वर्से को याद करो। टॉक नो ईविल, सी नो ईविल… बहुत सेन्टर्स पर अच्छे-अच्छे बी.के. इतना जोर से बोलते-हँसते हैं, बात मत पूछो। बाबा समझाते रहते हैं। यहाँ तुम्हारा कितना लव चाहिए। सतयुग में शेर गाय इक्ट्ठा जल पीते हैं। यहाँ बहुत प्यार होना चाहिए। हम ईश्वरीय सन्तान हैं, बड़ी रॉयल चलन चाहिए। हम परमपिता परमात्मा की सन्तान हैं। हम श्रीमत पर चलकर बेहद का वर्सा ले रहे हैं। श्रीमत पर नहीं चलते तो कितनी डिस-सर्विस करते हैं इसलिए टाइम बहुत लग जाता है। वाचा बड़ी फर्स्टक्लास होनी चाहिए। स्कूल में बच्चे नम्बरवार होते हैं। कोई तो बहुत अच्छा पढ़ते हैं – कोई थर्ड क्लास। गरीबों की लगन अच्छी होती है। 50 गरीब आयेंगे तो एक साहूकार। क्यों? बाबा है गरीब निवाज़। मम्मा गरीब थी। परन्तु बाबा से आगे चली गई। उन्हें लिफ्ट मिल गई। बाबा ने इसमें प्रवेश किया – यह भी लिफ्ट है। बच्चों को देही-अभिमानी बनना है। लक्षण भी सीखने हैं, तब खुशी का पारा चढ़ेगा। बाप कहते हैं तुमको सर्वगुण सम्पन्न 16 कला सम्पूर्ण, सम्पूर्ण निर्विकारी पवित्र आत्मा बनना है। इनके पास आते हो तो शिवबाबा को याद करके आओ। तुमको याद करना है शिवबाबा को। यह तो गॉवड़े का छोरा था। यह है ही निधनके, दु:ख देने वाले छोकरों की दुनिया। छो करे अर्थात् क्यों गिरे। माया ने गिरा दिया है। बाबा कारण बतलाते हैं कि तुम भारतवासी स्वर्ग के मालिक थे। फिर गिरे क्यों? मुझ बाप को भूल गये। अब मुझे याद करो तो चढ़ जायेंगे। मुख्य बात है बाप को याद करना, ज्ञान की बातें सुननी और सुनानी है। सर्विस करनी है। मम्मा भी सर्विस करती थी। बाबा जास्ती नहीं जा सकते। बच्चे कमाई करते तो सर्विस करने वाले हो गये। बाबा को तो एक जगह रहना है। सबको यहाँ आकर रिफ्रेश होना है। यहाँ मधुबन में जो आते हैं तो सागर बाबा बहुत प्वाइंटस देते हैं। फर्क है ना। भल सेन्टर्स पर अच्छे-अच्छे हैं तो भी यहाँ आना पड़ता है। बाबा अच्छी तरह समझाते हैं। बहुत अच्छे-अच्छे बच्चे भी आपस में लूनपानी हैं तो वह औरों को क्या सिखलायेंगे? आपस में बात नहीं करते, कितना नाम बदनाम करते हैं इसलिए बाबा मुरली चलाते हैं कि कहाँ बच्चों की आंख खुले। परन्तु ब्राह्मणियां आपस में मिलती नहीं हैं। बात नहीं करती हैं। यह बहुत बड़ी मंजिल है। बाबा कहते हैं मैं आता हूँ तुमको विश्व का मालिक बनाने। कोई हथियार आदि नहीं। न कोई खर्चे की बात है। सिर्फ बाबा को याद करो और दैवीगुण धारण करो। आपस में बहुत मीठा बोलो। सबको ज्ञान की बातें सुनाओ। तुम्हारा धन्धा ही यह है। गीता का रहस्य इन चित्रों से समझाना है। वह भक्ति के गीत गाते हैं कि हे पतित-पावन आओ, आकर के पावन बनाओ। गीता के भगवान ने आकर पावन बनाया है। तुम जानते हो गीता का भगवान हमको फिर से नर से नारायण, मनुष्य से देवता बना रहे हैं। परन्तु अपने में गुण तो देखो। कोई-कोई का झूठ तो जैसे नम्बरवन धर्म है। तुम बच्चों को बिल्कुल भी दु:ख नहीं देना चाहिए। किसको दु:ख देते हैं तो जानवर से भी बदतर हैं। मुख से कुछ और कहते हैं और आपस में लूनपानी होते रहते हैं तो बहुत डिस-सर्विस करते हैं। इसको ही माया का ग्रहण कहा जाता है। कोई पर ग्रहचारी बैठती है तो ग्लानी करने लग पड़ते हैं। किसकी ग्रहचारी थोड़ा समय चलती है, किसकी अन्त तक भी उतरती नहीं है। तो बच्चों को सर्विस में लगा रहना चाहिए। बाबा सर्विस बिगर हम रह नहीं सकते। हमको कहाँ भेजो। जो सर्विस ही नहीं जानते तो उनको बाबा थोड़ेही एलाउ करेंगे। देखेंगे इनको सर्विस का शौक है? कहते हैं बाबा हमको फलानी सर्विस का शौक है तो बाबा भेज देते हैं। सर्विस बिगर क्या पद पायेंगे। तुम्हारी सर्विस ही है मनुष्य से देवता बनाना। पूछना ही यह है कि परमपिता परमात्मा से तुम्हारा क्या सम्बन्ध है? बाबा ने कुरूक्षेत्र वालों को डायरेक्शन दिये हैं कि बड़े-बड़े बोर्ड लगा दो। मेले में यह पोस्टर जरूर लगा दो। तो सबका विचार चलेगा कि यह ठीक पूछते हैं। यह बड़ी अच्छी बात है। वहाँ पण्डे लोग ऐसे हैं जो माथा खराब कर देते हैं। देखा गया है – तीर्थों पर बहुत सर्विस नहीं हो सकती है। बहुत समझ भी जाते हैं फिर कहते हैं हम अगर यह ज्ञान समझाने लग पड़े तो हमारी कमाई चट हो जायेगी। इतने सब फालोअर्स कहेंगे कि यह बी.के. पर आशिक हुआ है। इसमें बड़ी समझ और दूरादेशी चाहिए। बलिहारी शिवबाबा की है, उनकी श्रीमत पर चलना है। ज्ञान में बड़ी अच्छी बुद्धि चाहिए। श्रीमत पर चलना चाहिए। बहुतों को अहंकार आ जाता है कि मेरे जैसा कोई है नहीं। कोई तो ऐसे बुद्धू हैं समझते हैं कि ब्रह्मा भी क्या है? जैसे हम जिज्ञासू हैं, वैसे ब्रह्मा भी जिज्ञासू है। कोई प्वाइंट में हम तीखे हैं, कोई प्वाइंट में करके ब्रह्मा तीखा जायेगा। अरे मम्मा बाबा तो जरूर सबसे तीखे होंगे। हम उन्हों का सामना क्यों करते हैं। बहुतों को अहंकार आ जाता है। बाबा कहते हैं रात के राही थक मत जाओ। बन्दरपना छोड़ दो। नहीं तो फिर सज़ायें खायेंगे। दैवीगुण धारण करने हैं। किसको भी कभी उल्टी मत नहीं देनी चाहिए जो उनका बुद्धियोग टूट पड़े। धूतियां उल्टी मत देती हैं। यह भी शास्त्रों में है ना। राम है एक, बाकी सब हैं सीतायें। बच्चों की चाल बड़ी दैवी होनी चाहिए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सत्य बाप सत्य बनाने आये हैं इसलिए कभी भी झूठ नहीं बोलना है। सदा सच्चे होकर रहना है। किसी को भी दु:ख नहीं देना है।

2) मुख से ज्ञान की बातें बोलनी हैं। वाचा बहुत फर्स्टक्लास रखनी है। किसी को भी उल्टी मत देकर धूतीपना नहीं करना है।

वरदान:- कल्याणकारी युग में स्वयं का और सर्व का कल्याण करने वाले प्रकृतिजीत, मायाजीत भव 
इस कल्याणकारी युग में, कल्याणकारी बाप के साथ-साथ आप बच्चे भी कल्याणकारी हो। आपकी चैलेन्ज है कि हम विश्व परिवर्तक हैं। दुनिया वालों को सिर्फ विनाश दिखाई देता इसलिए समझते हैं – यह अकल्याण का समय है लेकिन आपके सामने विनाश के साथ स्थापना भी स्पष्ट है और मन में यही शुभ भावना है कि अब सर्व का कल्याण हो। मनुष्यात्मायें तो क्या प्रकृति का भी कल्याण करने वाले ही प्रकृतिजीत, मायाजीत कहलाते हैं, उनके लिए प्रकृति सुखदाई बन जाती है।
स्लोगन:- न्यारे-प्यारे होकर कर्म करने वाले ही संकल्पों पर सेकण्ड में फुलस्टॉप लगा सकते हैं।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize