25 may ki murli

TODAY MURLI 25 MAY 2021 DAILY MURLI (English)

25/05/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, destruction is definitely fixed in this drama. You have to become karmateet before destruction takes place.
Question: Which words spoken by the Father attract you a great deal when you are in front of Him in person?
Answer: When you are in front of the Father in person and He says the words “You are My children”, it attracts you a great deal. You enjoy it very much when you hear this personally. Madhuban attracts all the children because it is God’s family here. This is the gathering of Brahmins. Brahmins only exchange knowledge amongst themselves.
Song: Our pilgrimage is unique.

Om shanti. You children know that you are going on an imperishable spiritual pilgrimage. You will not return to the land of death from this pilgrimage. People don’t know that there can be such a pilgrimage from which we don’t have to return here. You lucky stars now know this. Remember this very firmly. We souls are playing our parts. In other plays you would not say: I, a soul, wore this costume and played this part and am now returning home. They consider themselves to be bodily beings. Here, you children have the knowledge that you are souls and that you will shed the costumes of your bodies and take others. These costumes are 84 births old. You will shed them and take new costumes in the new world. Lakshmi and Narayan are wearing new costumes, are they not? They belong to your kingdom. You will go and also wear such new, divine costumes. Here, you say: I am without virtues, I have no virtues. Only the Father makes you virtuous. He says: I have the part of coming to make you viceless too. This land is the land of bondage-in-life, the kingdom of Ravan. How you become pure from impure and then impure from pure is in your intellects. You children know that the iron age is darkness. It is now the end of the kingdom of Ravan and the kingdom of Rama is about to begin; it is now the confluence age. The Father has to come at the confluence age of the cycle. People of the world also understand that it is now the time of destruction and that God is somewhere in an incognito form for the sake of establishment. Even you souls are in an incognito form. A soul is distinct from his body. That human costume is your incognito dress. Even the Father has to enter this body. You have names given to your bodies, whereas He doesn’t even have a body. You are souls and He is also a soul. The soul now has attachment to souls. It is remembered: I will break away from everyone else and connect myself to You alone. Just as You are the Conqueror of Attachment, so we will become the same. Baba is the complete Conqueror of Attachment. There are so many children who have been burnt by sitting on the pyre of lust. The Supreme Father, the Supreme Soul, only comes to destroy the old world. Therefore, how could He have attachment? Only when impure ones have been destroyed can there be the kingdom of peace. At this time no one has happiness. All are tamopradhan and experiencing sorrow. This is the impure world. Shiv Baba comes and establishes heaven which is called Shivalaya. Shiv Baba establishes the kingdom of deities and that is the living Shivalaya. The Shivalaya that has an image of Shiva is non-living. You now understand that Lakshmi and Narayan truly were the masters of heaven, that they were worthy of worship and are now becoming that once again. Now you have knowledge and so you no longer go to a temple of Lakshmi and Narayan to bow down to them. You will go to their kingdom in the living form. You know that you were deities and that you are no longer that. Images are created of those who existed in the past. Birla has built the most temples to Lakshmi and Narayan. Therefore, you have to do service of him too. Tell him: We will tell you the story of the 84 births of Lakshmi and Narayan to whom you built those temples. Give him this gift with tact. Baba shows you ways of doing service. Mothers should go and tell them: You build temples to them, but you don’t know their life story. We know this and can explain it to you. Those who explain have to do it in a very interesting way. The Father too sits here and explains to you. Baba says: If you don’t have permission to come, sit at home and remember Me. You know that you are Shiv Baba’s children. You receive murlis anyway. It is not that if you came here, your pilgrimage of remembrance would be better and that when you sit at home, your pilgrimage of remembrance is less. Clouds come to be refreshed. You too come here to be refreshed. You want to come to Baba personally. When you souls listen to this knowledge directly, you enjoy it, but it is the same thing. You children can see how Shiv Baba sits here and says to you: Children, you belong to Me. You have played your parts of 84 births. You come into the cycle of birth and death, whereas I don’t. I don’t take rebirth. I am not even beyond birth. I do come, but I enter an old body. You souls enter the bodies of babies. I come down from the supreme region to play My part. I don’t enter the womb of a vicious person. You call out to Me: You are the Mother and You are the Father. No one can be My mother or father. I simply take the support of a body to play My part. You call out to Me to remove your sorrow and give you happiness. I have now come personally in front of you. I am speaking to you souls. Here, all of you are Brahmins. When you go outside, you become swans and storks. Here (in Madhuban), you only have the company of Brahmins. Your chit-chat amongst yourselves is only of knowledge. You are establishing your own kingdom. Baba has come and advises you to continue to tell one another the way to remember the Father. Even at meal times, continue to signal one another to remember the Father. This is a very big gathering. There, vicious ones live with you. Therefore, there is that pull. Here, there is no one’s pull. Warriors live with warriors. This is your family. Your intellects are only aware of having to give the Father’s introduction to whomever you meet: Continue to remember God. There are two fathers. Even though they have worldly fathers, they remember God. Those are worldly fathers; they cannot be called God, the Father. This One is the Father from beyond this world. You definitely have to receive an inheritance from God, the Father. Continue to buzz knowledge in this way. You are Brahmins, are you not? Even sannyasis buzz knowledge of the happiness of this world being like the droppings of a crow. There is so much sorrow! They are hatha yogis who belong to the path of isolation. Their religion is separate. You know that we remain so happy and pure in the golden age. You know that when it was the kingdom of deities, there was the pure family path in Bharat. Those who were pure have become impure. People continue to call out: O Purifier, come! However, they then say that God is omnipresent, that they will go and merge into the light. They don’t even believe in rebirth. There are many different opinions. Day by day, the population continues to grow. You also have to tell them how even the number of sannyasis is growing. Even the number of sannyasis who remain naked is growing. By staying in whatever religion they belong to, their final thoughts lead them to their destination. For instance, the final thought of those who practise studying the scriptures leads them to their destination. Then, in their next birth, they are able to learn the scriptures by heart from childhood. The Father now says: Renounce all the things of body consciousness such as that I am so-and-so or this or that. Consider yourselves to be bodiless souls and remember the Father. While seeing this body don’t see it! Renounce all bodily relations including your own bodies. Have the faith that each of you is a soul and remember God. This takes a lot of time. Maya doesn’t allow you to stay in remembrance. Otherwise, it should be very easy for those who are in the stage of retirement. The Father Himself says: Whether you are young or old, it is now the stage of retirement for all of you. On the one hand, destruction will take place and, on the other hand, some will continue to take birth. Those who have to take rebirth will continue to come. You understand that children will be born and destruction will also take place. Some will be in the womb and others will be somewhere else, but everyone will be destroyed. They will all settle their accounts and return home. There will have to be severe punishment if any karmic accounts remain. It will then be lightened. It shouldn’t be that you stay in yoga and also continue to commit sin. Some children continue to write their charts and also say that Maya made them dirty their faces. If Maya defeated them, they would be called weak. The Father explains: Just think that you are only here for a few more days and that you will then return home. Everything is to be destroyed. The Father says: Remember Me and your sins will be absolved. Continue to examine your chart. To how many do I show the path and how many do I inspire to make effort? Become a helper in spiritual service with your body, mind and wealth. Some say that they’re unable to control their minds. The soul is peaceful. I, the soul, will go and sit in my supreme region. There won’t be any thoughts of this world. It isn’t that you have to close your eyes and become unconscious. Many learn such things. They remain unconscious for 10 to 15 days. They practise this and then wake up after so many days. It is as though they have a time bomb: the time is pre-set for it to go off after so many hours. You children know that you are having yoga. When the tamopradhan rubbish is removed and you have become satopradhan you will then leave your bodies. We are now on the pilgrimage of yoga. We have received this much time. We will then have to shed our bodies and everything will be destroyed. The time for the end is fixed, when everyone will shed their body and return home like a swarm of mosquitoes and destruction will take place. You will reach your karmateet stage and destruction will begin. The scenes of destruction are very horrific. This is definitely fixed in the drama. You understand that your stage must remain constant and stable. You should remain constantly cheerful and happy. This world has to be destroyed. You know that destruction takes place every cycle at the confluence age. It isn’t just through bombs, but even natural calamities help a great deal. Therefore, it should remain in the intellects of you children that you now have to return home. The more you remember Baba, the more your sins will be absolved and the higher the status you will claim. Charity begins at home! You should try to do this. A kumari is one who uplifts her parents’ home and her in-laws’ home. This means “Charity begins at home.” Remain engaged in service and tell them: Shiv Baba says: Remember Me and you will receive the inheritance. This is a straightforward matter. Remember Me, Alpha, and the inheritance of heaven is yours. You will become the masters of the world. Therefore, if you want to receive your inheritance, remember Me. It is the duty of you children to give this message. You also gave it previously. You have to tell them that destruction is just ahead. After the iron age, the golden age will come. Only the Father comes and gives you your inheritance. Ravan makes you into residents of hell whereas the Father comes and makes you into residents of heaven. The story is about Bharat. The people of Bharat have to be awakened. First of all, go and explain at the temples to Shiva that that Father is the One who makes the world new. He says: Remember Me and your sins will be absolved. That incorporeal Baba has come and is carrying out establishment of heaven through Brahma. Now remember the Father and the inheritance. You have now completed your 84 births. We are telling you this, but whether you believe it or not is now up to you. These things you say are very good. Only the Father is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. Just explain to them a little and then move on from there. This is your business. There is no effort in it. You simply have to say: The Father says: Remember Me and become soul conscious. Go to the worshippers of Shiva and then go to the worshippers of Lakshmi and Narayan. Go and tell them the life story of Lakshmi and Narayan. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. 1. Become a helper in spiritual service with your body, mind and wealth. Give everyone the introduction to Alpha and enable them the right to claim their inheritance. Stay in remembrance of the Father in order to become karmateet before destruction takes place.
  2. Become a conqueror of attachment like the Father. Remove any attachment the soul has to other souls and have love for the one Father.
Blessing: May you finish the consciousness of “I” by practising the incorporeal stage and become egoless.
At present, the most subtle and beautiful thread is that of the consciousness of “I”. This word “I” takes you beyond body consciousness and also brings you into body consciousness. When the consciousness of “I” comes in a wrong form, then, instead of making you loving to the Father, it makes you loving to one or another soul or to name, regard and honour. In order to be free from this bondage, constantly remain stable in the incorporeal stage and then come into the corporeal form. Make this practice your natural nature and you will become egoless.
Slogan: To hear of someone’s good or bad situation and then to have thoughts of dislike is to follow the dictates of others.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 25 MAY 2021 : AAJ KI MURLI

25-05-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – इस ड्रामा के अन्दर विनाश की भारी नूँध है, तुम्हें विनाश के पहले कर्मातीत बनना है”
प्रश्नः- बाप के किन शब्दों की कशिश सम्मुख में बहुत होती है?
उत्तर:- बाप जब कहते – तुम मेरे बच्चे हो, तो इन शब्दों की कशिश सम्मुख में बहुत होती है। सम्मुख सुनने से बहुत अच्छा लगता है। मधुबन सब बच्चों को आकर्षित करता है क्योंकि यहाँ है ईश्वरीय परिवार। यहाँ ब्राह्मणों का संगठन है। ब्राह्मण आपस में ज्ञान की ही लेन-देन करते हैं।
गीत:- हमारे तीर्थ न्यारे हैं…

ओम् शान्ति। बच्चे जानते हैं कि हम अविनाशी यात्रा अथवा रूहानी यात्रा पर जा रहे हैं, जिस यात्रा से हम लौटकर मृत्युलोक में नहीं आयेंगे। मनुष्य तो यह बात जानते ही नहीं कि ऐसी यात्रा भी कोई होती है, जहाँ से कभी लौटकर आना न पड़े। तुम लक्की स्टार्स को अभी पता पड़ा है। यह पक्का याद करना है। हम आत्मायें पार्ट बजाती हैं। उस नाटक में ऐसे नहीं कहेंगे कि मुझ आत्मा ने यह वस्त्र पहनकर पार्ट बजाया, अब घर जाते हैं। वो तो अपने को शरीर ही समझते हैं। यहाँ तुम बच्चों को ज्ञान है – हम आत्मा हैं, यह शरीर रूपी कपड़ा छोड़ फिर दूसरा जाकर लेंगे। यह 84 जन्मों के पुराने कपड़े हैं, यह छोड़कर नई दुनिया में फिर नये कपड़े लेंगे। यह लक्ष्मी-नारायण ने नये कपड़े पहने हैं ना! तुम्हारी ही राजधानी के हैं। तुम भी जाए ऐसे नये दैवी कपड़े पहनेंगे। यहाँ तो कहते हैं – मुझ निर्गुण हारे में कोई गुण नाहीं। बाप ही फिर ऐसा गुणवान बनाते हैं। बाप कहते हैं – मेरा भी पार्ट है, आकर फिर तुमको वाइसलेस बनाता हूँ। यहाँ यह है जीवनबन्ध धाम, रावणराज्य है। यह तुम्हारी बुद्धि में है, हम पतित से पावन फिर पावन से पतित कैसे बनते हैं। तुम बच्चे जानते हो – कलियुग है अन्धियारा। रावणराज्य का अब अन्त है, रामराज्य की अब आदि होनी है। अभी है संगम। कल्प के संगमयुगे बाप को ही आना पड़ता है। दुनिया वाले भी अब यह समझ रहे हैं कि अब विनाश का समय है और स्थापना-अर्थ भगवान कहाँ गुप्त वेष में है। अब गुप्त वेष में तो तुम आत्मायें भी हो। आत्मा अलग है, शरीर अलग है। यह मनुष्य चोला गुप्त वेष है। बाप को भी इसमें आना है। तुम्हारे शरीर पर नाम पड़ते हैं, उनको तो शरीर है नहीं। तुम भी आत्मा हो, वह भी आत्मा है। आत्मा का आत्मा के साथ अब मोह हुआ है। गाते भी हैं – और संग तोड़, तुम संग जोड़ेंगे। जैसे आप मोहजीत हो, वैसे हम भी बनेंगे। बाबा बहुत मोहजीत है। कितने ढेर बच्चे हैं, जो काम चिता पर बैठ जल गये हैं। परमपिता परमात्मा आते ही हैं – पुरानी दुनिया का विनाश कराने, फिर मोह कैसे होगा। पतितों का जब विनाश हो तब तो शान्ति का राज्य हो। इस समय सुख तो कोई को भी है नहीं। सभी तमोप्रधान दु:खी बन गये हैं। यह है ही पतित दुनिया। शिवबाबा ही आकर स्वर्ग की स्थापना करते हैं, जिसका नाम शिवालय पड़ा है। शिवबाबा ने देवताओं की राजधानी स्थापन की। वह है चैतन्य शिवालय और वह शिवालय जिसमें शिव का चित्र है वो तो जड़ हो गया। अभी तुम समझ गये हो कि लक्ष्मी-नारायण बरोबर स्वर्ग के मालिक थे। पूज्य थे, अब फिर पूज्य बन रहे हैं। तुमको अभी ज्ञान है। तुम लक्ष्मी-नारायण के मन्दिर में जाकर उनको माथा नहीं टेकेंगे। तुम तो उनकी राजधानी में चैतन्य में जाते हो। जानते हो हम देवता थे, अब नहीं हैं। जो पास्ट होकर गये हैं उनके चित्र बनते हैं। लक्ष्मी-नारायण के मन्दिर सबसे जास्ती बिड़ला बनाते हैं। तो उनकी भी सर्विस करनी चाहिए। तुम जो यह लक्ष्मी-नारायण के मन्दिर बनाते हो, हम आपको इन्हों के 84 जन्मों की कहानी सुनाते हैं। युक्ति से यह सौगात देनी चाहिए। बाबा सर्विस की युक्तियाँ तो बताते हैं। मातायें जाकर बोलें आप उनके मन्दिर तो बनाते हो परन्तु उनकी जीवन कहानी को जानते नहीं। हम जानते हैं और समझा भी सकते हैं। समझाने वाली बड़ी रसीली चाहिए। बाप भी बैठ समझाते हैं ना। बाबा कहते – अगर छुट्टी नहीं मिलती हैं तो घर बैठे याद करो। यह तो जानते हो हम शिव-बाबा की सन्तान हैं। मुरली तो मिल जाती है। ऐसे नहीं कि यहाँ आने से याद की यात्रा अच्छी होगी, घर में बैठने से याद की यात्रा कम हो जायेगी। बादल आते हैं रिफ्रेश होने। तुम भी आते हो, रिफ्रेश होने। बाबा पास सम्मुख जायें। आत्मा को ज्ञान है, सम्मुख सुनने से अच्छा लगता है। बात तो वही है, देखते हो – शिवबाबा, कैसे बैठ बच्चों को समझाते हैं। “बच्चे तुम मेरे हो”, तुमने 84 जन्मों का पार्ट बजाया है। तुम जन्म-मरण में आते हो, मैं नहीं आता हूँ, मैं पुनर्जन्म नहीं लेता हूँ। अजन्मा भी नहीं हूँ। आता हूँ परन्तु बूढ़े तन में प्रवेश करता हूँ। तुम आत्मा छोटे बच्चे के शरीर में प्रवेश करती हो, मैं परमधाम से आता हूँ, नीचे पार्ट बजाने। मैं विकारी के गर्भ में नहीं आता हूँ। मुझे कहते हो – त्वमेव माताश्च पिता… मेरा कोई माँ बाप हो न सके। मैं सिर्फ शरीर का आधार ले पार्ट बजाता हूँ। तुम मुझे बुलाते हो दु:ख हरकर, सुख देने के लिए। अब सम्मुख आया हूँ, आत्माओं से बात कर रहे हैं। यहाँ तो सब ब्राह्मण ही हैं। तुम बाहर जाते हो तो हंस और बगुले हो जाते हो, यहाँ (मधुबन में) तुमको संग ही ब्राह्मणों का है। आपस में ज्ञान की चिटचैट ही करेंगे। हम अपनी राजधानी स्थापन कर रहे हैं। बाबा आया हुआ है, एक दो को यह युक्ति – बाप को याद करने की बताते रहो। भोजन पर भी एक दो को ईशारा देते रहो कि बाप को याद करो। बहुत बड़ा संगठन है ना। वहाँ तो विकारी साथ में रहते हैं, तो उनकी कशिश होती है। यहाँ तो किसकी कशिश नहीं होती। वारियर्स, वारियर्स के साथ रहते हैं। तुम्हारा कुटुम्ब यह है। बुद्धि में यही रहता है, जो कोई मिले उनको बाप का परिचय दें कि भगवान को याद करते रहो। दो बाप हैं ना। लौकिक बाप होते भी भगवान को याद करते हो ना। वो लौकिक फादर है। लौकिक फादर को गॉड-फादर नहीं कहेंगे। यह है पारलौकिक बाप, जरूर गॉड-फादर से वर्सा मिलता होगा। ऐसे-ऐसे भूँ-भूँ करते रहो। तुम ब्राह्मण हो ना। संन्यासी भी भूँ-भूँ करते हैं ना। इस दुनिया का सुख काग-विष्टा के समान है, कितना दु:ख है। वह तो हैं हठयोगी, निवृत्ति मार्ग वाले। उनका धर्म ही अलग है। तुम जानते हो – सतयुग में हम कितना सुखी पवित्र रहते हैं।भारत प्रवृत्ति मार्ग का था, देवी-देवताओं का राज्य था। जो पवित्र थे वही पतित बने हैं। पुकारते भी रहते हैं – हे पतित-पावन आओ और फिर कह देते परमात्मा सर्वव्यापी है। हम जाकर ज्योति-ज्योत समायेंगे। पुनर्जन्म को भी नहीं मानते हैं। अनेक मत हैं ना। दिन-प्रतिदिन वृद्धि होती रहती है। यह भी बताना है कि संन्यासियों की वृद्धि कैसे होती है। नांगों की भी वृद्धि होती है, जिसका जो धर्म है, उसमें ही रहने से फिर अन्त मति सो गति हो जाती है। जिसका जो जास्ती अभ्यास करते हैं जैसे कोई शास्त्र आदि पढ़ते हैं तो अन्त मती सो गति, फिर छोटेपन में ही शास्त्र कण्ठ हो जाते हैं। अभी बाप कहते हैं – मैं फलाना हूँ, यह हूँ, यह सब देह-अभिमान की बातें छोड़ दो। अपने को अशरीरी आत्मा समझो और बाप को याद करो। इस शरीर को देखते हुए भी नहीं देखो। देह सहित देह के जो सम्बन्ध आदि हैं, सबको छोड़ो। अपने को आत्मा निश्चय करो, परमात्मा को याद करो। इसमें टाइम बहुत लगता है। माया याद करने नहीं देती है। नहीं तो वानप्रस्थी के लिए बहुत सहज है। बाप खुद कहते हैं अभी तुम छोटे-बड़े सबकी वानप्रस्थ अवस्था है। एक तरफ विनाश भी होता रहेगा दूसरे तरफ जन्म भी लेते रहेंगे। पुनर्जन्म लेना होगा तो आ जायेंगे। बच्चे भी पैदा होंगे। फिर विनाश भी हो जायेगा। यह तो तुम जानते हो – कोई गर्भ में होंगे, कोई कहाँ, सब खत्म हो जायेंगे। सब अपना हिसाब चुक्तू कर वापिस जायेंगे। हिसाब-किताब रहा हुआ होगा तो अच्छी रीति सजायें खानी पड़ेंगी। फिर वह भी हल्का हो जायेगा। ऐसे नहीं कि योग में भी रहो और पाप भी करते रहो। कई बच्चे एक तरफ चार्ट भी लिखते रहते और फिर कहते माया ने मुँह काला कर दिया। माया ने हरा दिया तो कच्चा कहेंगे ना। तो बाप समझाते हैं कि तुम ऐसे समझो कि हम थोड़े दिन यहाँ हैं फिर चले जायेंगे। इन सबका विनाश हो रहा है। बाप कहते हैं – मुझे याद करो तो विकर्म विनाश होंगे, अपना चार्ट देखते रहो – हम कितनों को रास्ता बताते हैं और पुरूषार्थ कराते हैं। तन-मन-धन से रूहानी सेवा में मददगार बनना पड़े। कहते हैं मन को अमन नहीं कर सकते। आत्मा तो है ही शान्त। हम आत्मा अपने परमधाम में जाकर बैठेंगी। कोई दुनिया का संकल्प नहीं आयेगा। ऐसे नहीं कि ऑखे बन्द कर अन-कानसेस होना है। ऐसे बहुत सीखते भी हैं। 10-15 दिन अनकानसेस भी हो जाते हैं। यह अभ्यास करते हैं फिर इतने समय बाद जाग जायेंगे। जैसे टाइम बाम्बस होते हैं तो उनका भी टाइम होता है, यह इतने घण्टे बाद फटेंगे।

तुम बच्चों को पता है – हम योग लगा रहे हैं। जब तमोप्रधान किचड़ा निकलेगा हम सतोप्रधान बन जायेंगे तो फिर इस शरीर को छोड़ देंगे। हम अभी योग की यात्रा पर हैं। टाइम मिला हुआ है फिर यह शरीर छोड़ना ही है फिर सब खत्म हो जायेगा। टाइम नूँधा हुआ है फिर पिछाड़ी में मच्छरों सदृश्य शरीर छोड़ेंगे। विनाश होगा, तुम कर्मातीत अवस्था को पायेंगे फिर विनाश शुरू हो जायेगा। विनाश का बड़ा भारी सीन है। यह ड्रामा में भारी नूँध है। तुम जानते हो – हमारी अवस्था एकरस रहेगी। खुशी में सदैव हर्षित रहेंगे। यह दुनिया तो खलास होनी ही है। जानते हैं, कल्प-कल्प संगमयुग होता है, तब विनाश होता है। सिर्फ बाम्बस नहीं, नेचुरल कैलेमिटीज़ भी मदद करती हैं। तो बच्चों को यह बुद्धि में रहना चाहिए – अभी हमको जाना है। जितना बाबा को याद करेंगे तो विकर्म विनाश होंगे, ऊंच पद पायेंगे। चैरिटी बिगन्स एट होम। कोशिश करना चाहिए। कन्या वह जो पियर घर और ससुरघर का उद्धार करे। तो चैरिटी बिगन्स एट होम हुआ ना। सर्विस में लगा रहना चाहिए बोलो, शिवबाबा कहते हैं – मुझे याद करो तो वर्सा मिलेगा। सीधी बात है। मुझ अल्फ को याद करोगे तो स्वर्ग का वर्सा तुम्हारा है। विश्व के मालिक तुम बन जायेंगे। अब वर्सा पाना है तो मुझे याद करो। बच्चों का फर्ज है, यह पैगाम देना। आगे भी दिया था। बताना है विनाश सामने खड़ा है। कलियुग के बाद सतयुग आयेगा। बाप ही आकर वर्सा देते हैं। रावण नर्कवासी बनाते हैं। बाप आकर स्वर्गवासी बनाते हैं। कहानी भारत की है। भारतवासियों को खड़ा करना है। पहले शिव के मन्दिर में जाकर समझाना है। यह बाप नई सृष्टि रचने वाला है। कहते हैं – मुझे याद करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश हों। यह निराकार बाबा आये हुए हैं। ब्रह्मा द्वारा स्वर्ग की स्थापना कर रहे हैं। अब बाप और वर्से को याद करो। 84 जन्म पूरे हुए हैं। अब हम आपको बताते हैं। अब मानो न मानो, तुम्हारी मर्जी। बातें तो बड़ी अच्छी हैं। बाप ही दु:ख-हर्ता, सुख-कर्ता है। थोड़ा ही समझाया – यह चला। यह है तुम्हारा धन्धा। मेहनत तो कुछ है नहीं। सिर्फ मुख से बोलना है – बाप कहते हैं मुझे याद करो। देही-अभिमानी बनो। शिव के पुजारियों पास जाओ फिर लक्ष्मी-नारायण के पुजारियों के पास जाओ। उन्हें उनकी जीवन कहानी सुनाओ। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) तन, मन, धन से रूहानी सेवा में मददगार बनना है। सबको अल्फ का परिचय दे वर्से का अधिकारी बनाना है। विनाश के पहले कर्मातीत बनने के लिए बाप की याद में रहना है।

2) बाप समान मोह जीत बनना है। आत्मा का आत्मा से जो मोह हो गया है उसे निकाल एक बाप से लगन लगानी है।

वरदान:- निराकारी स्थिति के अभ्यास द्वारा मैं पन को समाप्त करने वाले निरहंकारी भव
वर्तमान समय सबसे महीन और सुन्दर धागा – यह मैं पन है। यह मैं शब्द ही देह-अभिमान से पार ले जाने वाला भी है तो देह-अभिमान में लाने वाला भी है। जब मैं पन उल्टे रूप में आता है तो बाप का प्यारा बनाने के बजाए कोई न कोई आत्मा का, नाम-मान-शान का प्यारा बना देता है। इस बंधन से मुक्त बनने के लिए निरन्तर निराकारी स्थिति में स्थित होकर साकार में आओ – इस अभ्यास को नेचुरल नेचर बना दो तो निरहंकारी बन जायेंगे।
स्लोगन:- किसी की बुरी वा अच्छी बात सुनकर संकल्प में भी घृणा भाव आना – यह भी परमत है।

TODAY MURLI 25 MAY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 25 May 2020

25/05/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, make effort to stay in remembrance and you will continue to become pure. The Father is now teaching you and He will then take you back with Him.
Question: What message do you have to give everyone?
Answer: You now have to return home. Therefore, become pure. The Father, the Purifier, says: Remember Me and you will become pure. Give everyone this message. The Father has given you children His own introduction. It is now your duty to show (reveal) the Father. It is said: Son shows Father.
Song: To live in Your lane and to die in Your lane.

Om shanti. You children have heard the meaning of the song: Baba, we will be threaded in Your rosary of Rudra. This song was composed on the path of devotion. All the paraphernalia in the world that is, the chanting mantra, tapasya, and worshipping belong to the path of devotion. Devotion belongs to the kingdom of Ravan whereas knowledge belongs to the kingdom of Rama (God). Gyan is called knowledge, a study. Devotion is not called a study. There is no aim in devotion of becoming someone. Devotion is not a study. To learn Raja Yoga is a study. You study at one place in a school, whereas in devotion, you stumble from door to door. Study means study! Therefore, you should study very well. You children know that you are students. There are many of you who do not consider themselves to be students, because they don’t study at all. Neither do they consider the Father to be the Father, nor do they consider Shiv Baba to be the Bestower of Salvation. Nothing sits in the intellects of some here. A kingdom is being established and it has to be made up of all kinds of people. The Father has come to make you impure ones pure. You called out to the Father: O Purifier, come! The Father says: Now become pure! You have to give everyone the Father’s message: Remember the Father! At present, Bharat is a brothel, whereas it was previously the Temple of Shiva. It doesn’t have either of the two crowns now. Only you children know this. The Purifier Father says: Now remember Me and you will become pure from impure. It is only in remembrance that there is effort. There are very few who stay in remembrance. The rosary of devotees is of only a few. There are the different names of devotees: Dhana bhagat, Narad and Meera etc. Not everyone will come and study here. Only those who studied a cycle ago will come again. They also say: Baba, we met You a cycle ago. We came here to study; we came to learn the pilgrimage of remembrance. The Father has now come to take you children back home. He explains: You souls are impure and this is why you called out to Me to come and purify you. The Father says: Now remember Me and become pure! The Father teaches you and then takes you back with Him. You children should have a lot of happiness inside you. The Father is teaching you. Krishna wouldn’t be called the Father. Krishna wouldn’t be called the Purifier. No one but you knows who the Father is or how He gives us knowledge. It is only to you children that the Father gives His introduction. The Father wouldn’t meet new children straight away. The Father says: Son shows Father. Only you children show (reveal) the Father. The Father doesn’t have to meet or talk to new ones, although for so long Baba used to meet many new children. That was fixed in the drama. Many used to come. Baba has explained that you also have to uplift the military people. They too have their jobs to do. Otherwise, an enemy would come and attack. They simply have to remember the Father. It says in the Gita that those who leave their bodies while on the battlefield will go to heaven. However, you cannot go to heaven just like that. It is only when the One who establishes heaven comes here that you can go to heaven. No one knows what heaven is. You children are now battling against Ravan, the five vices. The Father says: May you be bodiless! No one else would say: Have the faith that you are a soul and remember Me! You cannot call anyone but the one Father, “The Almighty Authority”. You wouldn’t call Brahma, Vishnu or Shankar that. Only the one Father is the Almighty. He is the World Almighty Authority. Only the one Father is called the Ocean of Knowledge. All of those sages and holy men are authorities of the scriptures. You wouldn’t even call them authorities of devotion. They are authorities of the scriptures. For them, everything depends on the scriptures. They believe that God will give them the fruit of their devotion. They do not know when devotion begins or when it ends. Devotees believe that God is pleased with them for doing devotion. They have a desire to meet God, but whose worship would He be pleased with? He would definitely be pleased, but only when you worship Him alone. If you worship Shankar, how could the Father be pleased? Would the Father be pleased if you worship Hanuman? They simply have a vision; they don’t receive anything. The Father says: Although I grant them visions, none of them is able to come and meet Me. No, only you come and meet Me. Devotees do devotion in order to meet God. They say: We don’t know in which form God will come and meet us. Therefore, that is called blind faith. You have now met the Father. You know that it is only when the incorporeal Father adopts a body that He can give you His introduction. He says: I am Your Father. Five thousand years ago, I gave you your fortune of the kingdom. Then you took 84 births. This world cycle continues to turn. It is only after the copper age begins that the other religions come. Each founder of a religion comes to establish his own religion. It is not a question of how great any of them are. It isn’t anyone’s greatness. It is only when the Father enters Brahma that there can be his greatness. He was simply carrying on with his business; he didn’t know that God would enter him. The Father entered him and explained how He entered him. He said: See how what is yours belongs to Me and how what is Mine belongs to you. You become My helper with your body, mind and wealth and, in return for that, this is what you will receive. The Father says: I enter an ordinary body of one who does not know his own births but no one knows when or how I come. You can now see how the Father has entered this ordinary body. He is teaching us knowledge and yoga through this body. Knowledge is very easy. Only you know how the gates of hell close and how the gates to heaven open. Ravan’s kingdom starts with the copper age. That is when the gates of hell open. The old and the new worlds are half and half. The Father says: I now simply show you children the way to change from impure to pure: Remember the Father and your sins of many births will be absolved. You have to confess all the sins you have committed in this birth. You do remember what sins you have committed in this birth, do you not? You also know what charity you have carried out and what donations you have given. This one knows about his childhood. Krishna is called Shyam Sundar (the ugly and the beautiful one). The meaning of this doesn’t enter anyone else’s intellect. Because his name is Shyam Sundar, they created a dark blue image of him. Look at the Raghunath Temple and the Hanuman Temple. Everyone’s image has been made ugly. This is the impure world. You children are now concerned about changing from ugly to beautiful. Therefore, to do this, stay in remembrance of the Father. The Father says: This is your last birth. Remember Me and your sins will be burnt away. You know that the Father has come to take you back home. Therefore, you will definitely have to renounce your body here. He won’t take you souls back with your bodies. Impure souls cannot go there. Therefore, the Father will definitely show you ways to become pure. He says: Remember Me, and your sins will be absolved. Those on the path of devotion just have blind faith. They speak of Shiv Kashi. Then they say that Shiva brought the Ganges, that the Ganges emerged through Bhagirath (the Lucky Chariot). How could water emerge from someone’s head? Is Bhagirath sitting in the mountains that the Ganges could emerge through his hair? The rain that falls is drawn from the oceans. Then that water falls all over the world; there are rivers everywhere. The water on the mountains becomes ice. That ice continues to melt and then flows into a river. The water from the caves in the mountains also fills the wells. They too depend on rain. When there isn’t any rain, the wells dry up. You now say: Baba, purify us and send us to heaven. People only desire to go to heaven, the land of Krishna. No one knows about the land of Vishnu. The devotees of Krishna say: Wherever I look, I only see Krishna. However, since they call God omnipresent, why do they not say that wherever they look, they only see God? This is why the devotees of the Supreme Soul (God) say that everyone is a form of Him. He enables this whole play to take place. They say that God adopted a form in order to create this wonderful play. Therefore, He would definitely play a part. Just look at God’s world of heaven! There is no question of any dirt there. Here, there is nothing but dirt. Here, people also say that God is omnipresent, that it is God who gives happiness and sorrow. When they have a child, they experience happiness but if he dies, they experience sorrow. God gave you something and then took it back, so what is there to cry about? They don’t experience sorrow in the golden age that they would have to cry. There is the example of the king who conquered attachment. All of those examples are false; there is no meaning in them. There aren’t any sages or holy men in the golden age. Such things can’t exist here; there couldn’t be a king here who has conquered attachment. God speaks: What are the Yadavas, the Kauravas and the Pandavas doing now? Your yoga is with the Father. The Father says: I make Bharat into heaven through you children. Those who become pure now will become the masters of the pure world. Tell everyone you meet that God says: Constantly remember Me alone! Only love Me alone! Do not remember anyone else! This remembrance is called unadulterated remembrance. Here, you do not have to offer water etc. You used to do all of that business on the path of devotion. You also used to remember God. Gurus would say: Remember Me! Do not remember your husband. Baba explains so many things to you children. The main thing He explains is that you have to give everyone the message: Baba says: Constantly remember Me alone! Baba means God. God is incorporeal. Not everyone would call Krishna God. Krishna himself is a child. If Shiv Baba were not in this one, would you be here? Shiv Baba has adopted you and made you belong to Him through this one. Therefore, this one is a mother as well as a father. A mother in a corporeal form is needed. He (Shiv Baba) is the Father. Therefore, imbibe these things very well. You children mustn’t become confused about any aspect. Never stop studying. Some children are influenced by bad company. Then they sulk and open their own pathshala. If they have conflict with someone, they go and open their own pathshala. That is just foolishness. If they sulk, they are not worthy of opening a pathshala. Their body consciousness will not let them continue. They have animosity in their intellects, so only that will be remembered and they won’t be able to explain anything to anyone. It also happens that those to whom they give knowledge go quickly ahead of them and that they themselves fall. One can understand when the stage of others is a lot better than one’s own stage. In some cases, the student becomes a king and the teacher becomes a maid or a servant. Make effort and become part of the garland around the Father’s neck. Baba, I will belong to You for as long as I live. It is only by having remembrance of the Father that your boat can go across. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Never become confused about any aspect. Never stop studying because of sulking with others. To have animosity is body consciousness. Caution yourself so that you don’t become influenced by bad company. Become so pure that your behaviour reveals the Father.
  2. Let your intellect have love for the Father and remain in unadulterated remembrance of Him. Become a full helper of the Father with your body, mind and wealth.
Blessing: May you claim a right to an elevated status by transforming yourself and becoming an image of support for the world.
In order for you to attain an elevated status, BapDada’s teachings are: Children, transform yourselves. Instead of transforming yourself, you think or have thoughts about transforming situations or other souls; you think that you will transform yourself when you receive some salvation, co-operation or support. When you transform yourself on the basis of some support, your reward will also depend on some support because however many you take support from, your account of accumulation will accordingly be shared between that many. Therefore, always have the aim of transforming yourself. “I myself have to become an image of support for the world”.
Slogan: With the zeal and enthusiasm and elevated thoughts of a gathering, success is guaranteed.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 25 MAY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 25 May 2020

Murli Pdf for Print : – 

25-05-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – याद में रहने की मेहनत करो तो पावन बनते जायेंगे, अभी बाप तुम्हें पढ़ा रहे हैं फिर साथ में ले जायेंगे।”
प्रश्नः- कौन-सा पैगाम तुम्हें सभी को देना है?
उत्तर:- अब घर चलना है इसलिए पावन बनो। पतित-पावन बाप कहते हैं मुझे याद करो तो पावन बन जायेंगे, यह पैगाम सभी को दो। बाप ने अपना परिचय तुम बच्चों को दिया है, अब तुम्हारा कर्तव्य है बाप का शो करना। कहा भी जाता सन शोज़ फादर।
गीत:- मरना तेरी गली में……….

ओम् शान्ति। बच्चों ने गीत का अर्थ सुना कि बाबा हम आपकी रुद्र माला में पिरो ही जायेंगे। यह गीत तो भक्ति मार्ग के बने हुए हैं, जो भी दुनिया में सामग्री है, जप-तप, पूजा-पाठ यह सब है भक्ति मार्ग। भक्ति रावण राज्य, ज्ञान रामराज्य। ज्ञान को कहा जाता है नॉलेज, पढ़ाई। भक्ति को पढ़ाई नहीं कहा जाता। उसमें कोई उद्देश्य नहीं कि हम क्या बनेंगे, भक्ति पढ़ाई नहीं है। राजयोग सीखना यह पढ़ाई है, पढ़ाई एक जगह स्कूल में पढ़ी जाती है। भक्ति में तो दर-दर धक्के खाते हैं। पढ़ाई माना पढ़ाई। तो पढ़ाई पूरी रीति पढ़नी चाहिए। बच्चे जानते हैं हम स्टूडेन्ट हैं। बहुत हैं जो अपने को स्टूडेन्ट नहीं समझते हैं, क्योंकि पढ़ते ही नहीं हैं। न बाप को बाप समझते हैं, न शिवबाबा को सद्गति दाता समझते हैं। ऐसे भी हैं बुद्धि में कुछ भी बैठता ही नहीं, राजधानी स्थापन होती है ना। उसमें सभी प्रकार के होते हैं। बाप आये ही हैं पतितों को पावन बनाने। बाप को बुलाते हैं – हे पतित-पावन आओ। अब बाप कहते हैं पावन बनो। बाप को याद करो। हर एक को पैगाम देना है बाप का। इस समय भारत ही वेश्यालय है। पहले भारत ही शिवालय था। अभी दोनों ताज़ नहीं हैं। यह भी तुम बच्चे ही जानते हो अब पतित-पावन बाप कहते हैं मुझे याद करो तो तुम पतित से पावन बन जायेंगे। याद में ही मेहनत है। बहुत थोड़े हैं जो याद में रहते हैं। भक्त माला भी थोड़ों की है ना। धन्ना भगत, नारद, मीरा आदि का नाम है। इसमें भी सब तो नहीं आकर पढ़ेंगे। कल्प पहले जिन्होंने पढ़ा है, वही आते हैं। कहते भी हैं बाबा हम आपसे कल्प पहले भी मिले थे, पढ़ने अथवा याद की यात्रा सीखने। अभी बाप आये ही हैं तुम बच्चों को ले जाने। समझाते हैं तुम्हारी आत्मा पतित है इसलिए बुलाते हो कि आकर पावन बनाओ। अब बाप कहते हैं मुझे याद करो, पवित्र बनो। बाप पढ़ाते हैं फिर साथ में भी ले जायेंगे। बच्चों को अन्दर बहुत खुशी होनी चाहिए। बाप पढ़ा रहे हैं, कृष्ण को बाप नहीं कहेंगे। कृष्ण को पतित-पावन नहीं कहेंगे। यह किसको भी पता नहीं कि बाप किसको कहा जाता है और फिर वह ज्ञान कैसे देते हैं। यह तुम ही जानते हो। बाप अपना परिचय बच्चों को ही देते हैं। नये-नये कोई से बाप नहीं मिल सकते। बाप कहेंगे सन शोज़ फादर। बच्चे ही बाप का शो करेंगे। बाप को कोई से भी मिलने, बात करने का नहीं है। भल इतना समय बाबा नये-नये से मिलते रहते हैं, ड्रामा में था, ढेर आते थे। मिलेट्री वालों के लिए भी बाबा ने समझाया है, उनका उद्धार करना है, उनको भी धंधा तो करना ही है। नहीं तो दुश्मन वार कर लेंगे। सिर्फ बाप को याद करना है। गीता में है जो युद्ध के मैदान में शरीर छोड़ेंगे, वह स्वर्ग में जायेंगे। परन्तु ऐसे तो जा न सकें। स्वर्ग स्थापन करने वाला भी जब आये तब ही जायेंगे। स्वर्ग क्या चीज़ है, यह भी कोई नहीं जानते हैं। अभी तुम बच्चे 5 विकारों रूपी रावण से युद्ध करते हो, बाप कहते हैं अशरीरी भव। अपने को आत्मा निश्चय कर मुझे याद करो। और कोई ऐसे कह न सके।

सर्वशक्तिमान एक बाप के सिवाए कोई को कह नहीं सकते। ब्रह्मा-विष्णु-शंकर को नहीं कह सकते। ऑलमाइटी एक ही बाप है। वर्ल्ड ऑलमाइटी अथॉरिटी, ज्ञान का सागर एक बाप को ही कहा जाता है। यह जो साधु-सन्त आदि हैं वह हैं शास्त्रों की अथॉरिटी। भक्ति की भी अथॉरिटी नहीं कहेंगे। शास्त्रों की अथॉरिटी हैं, उन्हों का सारा मदार शास्त्रों पर है। समझते हैं भक्ति का फल भगवान को देना है। भक्ति कब शुरू हुई, कब पूरी होनी है, यह पता नहीं है। भक्त समझते हैं भक्ति से भगवान राज़ी होगा। भगवान से मिलने की इच्छा रहती है, परन्तु वह किसकी भक्ति से राज़ी होगा? जरूर उनकी ही भक्ति करेंगे तब तो राज़ी होगा ना। तुम शंकर की भक्ति करो तो बाप राज़ी कैसे होगा, क्या हनूमान की भक्ति करेंगे तो बाप राज़ी होगा? दीदार हो जाता है, बाकी मिलता कुछ नहीं है। बाप कहते हैं मैं भल साक्षात्कार कराता हूँ, परन्तु ऐसे नहीं कि मेरे साथ आकर मिलेंगे। नहीं, तुम मेरे साथ मिलते हो। भगत भक्ति करते हैं भगवान से मिलने के लिए। कहते हैं पता नहीं कि भगवान किस रूप में आकर मिले, इसलिए उसे कहा जाता है ब्लाइन्ड-फेथ। अभी तुम बाप से मिले हो। जानते हो वह निराकार बाप जब शरीर धारण करे तब ही अपना परिचय दे कि मैं तुम्हारा बाप हूँ। 5 हज़ार वर्ष पहले भी तुमको राज्य-भाग्य दिया था फिर तुमको 84 जन्म लेने पड़े। यह सृष्टि चक्र फिरता रहता है। द्वापर के बाद ही दूसरे धर्म आते हैं, अपना-अपना धर्म आकर स्थापन करते हैं। इसमें कोई बड़ाई की बात नहीं है। बड़ाई किसकी भी नहीं है। ब्रह्मा की बड़ाई तब है जब बाप आकर प्रवेश करते हैं। नहीं तो यह धंधा करता था, इनको भी थोड़ेही पता था मेरे में भगवान आयेंगे। बाप ने प्रवेश कर समझाया है कि कैसे मैंने इनमें प्रवेश किया। कैसे इनको दिखाया – मेरा सो तुम्हारा, तुम्हारा सो मेरा, देख लो। तुम मेरे मददगार बनते हो – अपने तन-मन-धन से तो उनकी एवज में तुमको यह मिलेगा। बाप कहते हैं – मैं साधारण तन में प्रवेश करता हूँ, जो अपने जन्मों को नहीं जानते। परन्तु मैं कब आता हूँ, कैसे आता हूँ, यह किसको पता नहीं है। अभी तुम देखते हो साधारण तन में बाप आये हैं। इन द्वारा हमको ज्ञान और योग सिखला रहे हैं। ज्ञान तो बहुत सहज है। नर्क का फाटक बन्द हो स्वर्ग का फाटक कैसे खुलता है – यह भी तुम जानते हो। द्वापर में रावण राज्य शुरू होता है अर्थात् नर्क का द्वार खुलता है। नई और पुरानी दुनिया को आधा-आधा में रखा जाता है। तो अब बाप कहते हैं – मैं तुम बच्चों को पतित से पावन होने की युक्ति बताता हूँ। बाप को याद करो तो जन्म-जन्मान्तर के पाप नाश हो जाएं। इस जन्म के पाप भी बताने हैं। याद तो रहते हैं ना – क्या पाप किये हैं? क्या-क्या दान-पुण्य किया है? इसको अपने छोटेपन का पता है ना। कृष्ण का ही नाम है सांवरा और गोरा, श्याम सुन्दर। उनका अर्थ कभी कोई की बुद्धि में नहीं आयेगा। नाम श्याम-सुन्दर है तो चित्र में काला बना दिया है। रघुनाथ के मन्दिर में देखेंगे – वहाँ भी काला, हनूमान का मन्दिर देखो, तो सबको काला बना देते हैं। यह है ही पतित दुनिया। अभी तुम बच्चों को ओना (]िफा) है कि हम सांवरे से सुन्दर बनें। उसके लिए तुम बाप की याद में रहते हो। बाप कहते हैं यह अन्तिम जन्म है। मुझे याद करो तो पाप भस्म होंगे। जानते हैं बाप आये हैं ले जाने। तो जरूर शरीर यहाँ छोड़ेगे। शरीर सहित थोड़ेही ले जायेंगे। पतित आत्मायें भी जा न सकें। जरूर बाप पावन बनने की युक्ति बतायेंगे। तो कहते हैं मुझे याद करो तो विकर्म विनाश हों। भक्ति मार्ग में है अन्धश्रद्धा। शिव काशी कहते हैं फिर कहते हैं शिव ने गंगा लाई, भागीरथ से गंगा निकली। अब पानी माथे से कैसे निकलेगा। भागीरथ कोई ऊपर पहाड़ पर बैठा है क्या, जिसकी जटाओं से गंगा आयेगी! पानी जो बरसता है, सागर से खींचते हैं, जो सारी दुनिया में पानी जाता है। नदियाँ तो सब तरफ हैं। पहाड़ों पर बर्फ जम जाती है, वह भी पानी आता रहता है। पहाड़ों के अन्दर गुफाओं में जो पानी रहता है, वह फिर कुओं में आता रहता है। वह भी बरसात के आधार पर है। बरसात न पड़े तो कुएं भी सूख जाते हैं।

कहते भी हैं बाबा हमको पावन बनाकर स्वर्ग में ले जाओ। आश ही स्वर्ग, कृष्णपुरी की है। विष्णुपुरी का किसको पता नहीं है। कृष्ण के मुरीद कहेंगे – जहाँ देखो कृष्ण ही कृष्ण है। अरे, जबकि परमात्मा सर्वव्यापी है तो क्यों नहीं कहते जिधर देखो परमात्मा ही परमात्मा है। परमात्मा के मुरीद फिर ऐसे कहते यह सब उनके ही रूप हैं। वही यह सारी लीला कर रहे हैं। भगवान ने रूप धरे हैं, लीला करने के लिए। तो जरूर अभी लीला करेंगे ना। परमात्मा की दुनिया स्वर्ग में देखो, वहाँ गंद की कोई बात नहीं होती। यहाँ तो गंद ही गंद है और फिर यहाँ कह देते परमात्मा सर्वव्यापी है। परमात्मा ही सुख देते हैं। बच्चा आया सुख हुआ, मरा तो दु:ख होगा। अरे, भगवान ने तुमको चीज़ दी फिर ली तो इसमें तुमको रोने की क्या दरकार है! सतयुग में यह रोने आदि का दु:ख होता नहीं। मोहजीत राजा का दृष्टान्त दिखाया है। यह सब हैं झूठे दृष्टान्त। उनमें कोई सार नहीं है। सतयुग में ऋषि-मुनि होते नहीं। और यहाँ भी ऐसी बात हो नहीं सकती। ऐसा कोई मोहजीत राजा हो नहीं सकता। भगवानुवाच – यादव, कौरव, पाण्डव क्या करत भये? तुम्हारा बाप से योग है। बाप कहते हैं मैं तुम बच्चों द्वारा भारत को स्वर्ग बनाता हूँ। अब जो पवित्र बनते हैं वह पवित्र दुनिया के मालिक बनेंगे। कोई भी मिले उनको यह बोलो भगवान कहते हैं मामेकम् याद करो। मेरे से प्रीत लगाओ और कोई को याद न करो। यह है अव्यभिचारी याद। यहाँ कोई जल आदि नहीं चढ़ाना है। भक्ति मार्ग में यह धंधा आदि करते, याद करते थे ना। गुरू लोग भी कहते हैं, मुझे याद करो, अपने पति को याद नहीं करो। तुम बच्चों को कितनी बातें समझाते हैं। मूल बात है कि सभी को पैगाम दो – बाबा कहते हैं मामेकम् याद करो। बाबा माना ही भगवान। भगवान तो निराकार है। कृष्ण को सब भगवान नहीं कहेंगे। कृष्ण तो बच्चा है। शिवबाबा इसमें ना होता तो तुम होते क्या? शिवबाबा ने इन द्वारा तुमको एडाप्ट किया, अपना बनाया है। यह माता भी है, पिता भी है। माता तो साकार में चाहिए ना। वह तो है ही पिता। तो ऐसी-ऐसी बातें अच्छी रीति धारण करो।

तुम बच्चों को कभी भी किसी बात में मूंझना नहीं है। पढ़ाई को कभी नहीं छोड़ना। कई बच्चे संगदोष में आकर रूठकर अपनी पाठशाला खोल देते हैं। अगर आपस में लड़-झगड़कर जाए अपनी पाठशाला खोली तो मूर्खपना है, रूठते हैं तो पाठशाला खोलने के लायक ही नहीं हैं। वह देह-अभिमान तुम्हारा चलेगा ही नहीं क्योंकि बुद्धि में तो दुश्मनी है तो वह याद आयेगी। कुछ भी किसको समझा नहीं सकेंगे। ऐसे भी होता है, जिसको ज्ञान देते हैं वह तीखे चले जाते हैं, खुद गिर पड़ते हैं। खुद भी समझते हैं मेरे से उनकी अवस्था अच्छी है। पढ़ने वाला राजा बन जाए और पढ़ाने वाला दास-दासी बन जाते हैं, ऐसे-ऐसे भी हैं। पुरुषार्थ कर बाप के गले का हार बनना है। बाबा जीते जी मैं आपका बना हूँ। बाप की याद से ही बेड़ा पार होना है। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) कभी किसी बात में मूँझना नहीं है। आपस में रूठकर पढ़ाई नहीं छोड़नी है। दुश्मनी बनाना भी देह अभिमान है। संगदोष से अपनी बहुत-बहुत सम्भाल करनी है। पावन बनना है, अपनी चलन से बाप का शो करना है।

2) प्रीत बुद्धि बन एक बाप की अव्यभिचारी याद में रहना है। तन-मन-धन से बाप के कार्य में मददगार बनना है।

वरदान:- स्वयं को स्वयं ही परिवर्तन कर विश्व के आधारमूर्त बनने वाले श्रेष्ठ पद के अधिकारी भव
श्रेष्ठ पद पाने के लिए बापदादा की यही शिक्षा है कि बच्चे स्वयं को बदलो। स्वयं को बदलने के बजाए, परिस्थितियों को व अन्य आत्माओं का बदलने का सोचते हो या संकल्प आता है कि यह सैलवेशन मिले, सहयोग व सहारा मिले तो परिवर्तित हों – ऐसे किसी भी आधार पर परिवर्तन होने वाले की प्रालब्ध भी आधार पर ही रहेगी क्योंकि जितनों का आधार लेंगे उतना जमा का खाता शेयर्स में बंट जायेगा इसलिए सदा लक्ष्य रखो कि स्वयं को परिवर्तन होना है। मैं स्वयं विश्व का आधारमूर्त हूँ।
स्लोगन:- संगठन में उमंग-उत्साह और श्रेष्ठ संकल्प से सफलता हुई पड़ी है।

TODAY MURLI 25 MAY 2019 DAILY MURLI (English)

DAILY MURLI 25 MAY 2019

25/05/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, in order to lighten the sins of this birth, tell the Father the truth and finish off your sins of the previous births with the fire of yoga.
Question: What one concern should you have in order to become God’s helpers?
Answer: You have to stay on the pilgrimage of remembrance and definitely become pure. You need to have the concern to become pure. This is the main subject. The children who become pure are the ones who can become the Father’s helpers. What would the Father do alone? This is why you children have to make the world pure and create the pure kingdom with your own power of yoga by following shrimat. First make yourself pure.

Om shanti. You children definitely understand that you come to Baba to become refreshed. When you go to the centres at your own places, you cannot think in this way. It is in the intellects of you children that Baba is in Madhuban. The Father’s murli is spoken for you children. You children understand that you come to Madhuban to listen to the murli. They have associated the word ‘murli’ with Krishna. “Murli” doesn’t have the other meaning. You children have now understood very well. The Father has explained to you and you also feel that you truly had become very senseless. No one else understands himself to be like this. When you come here, your intellect have this faith: Truly, we had become very senseless. In the golden age, you were such sensible masters of the world. Fools can’t become the masters of the world. This Lakshmi and Narayan were the masters of the world. They were so sensible, which is why they are worshipped on the path of devotion. Non-living images cannot say anything. People worship Shiv Baba, but does He say anything? Shiv Baba only comes once and speaks. Those who worship Him don’t know that that One is the Father who speaks knowledge. They understand that Krishna played the flute (murli). They don’t know at all the occupation of the One they worship. So, that worship etc. would be fruitless until the Father comes. Many of you children have not studied any of the Vedas or scriptures etc. The one true Father is now teaching you. You truly understand that the One who teaches you the truth is only the one Father. The Father is called the Truth. He tells you the true story to change from an ordinary man into Narayan. The meaning is fine. The true Father comes, but if you want to become Narayan from an ordinary man, then He would definitely have to establish the golden age. It would not be the old iron-aged world that is created. At the time of listening to the story, it would not be in any of their intellects that they will become Narayan from an ordinary man. You are now being taught Raja Yoga to change from an ordinary man into Narayan. This is not anything new. The Father says: I come and explain to you every cycle. How could I come in every age? You can show them the picture of Brahma and say: This is the chariot. This is his last impure birth of many births and he is now becoming pure. We are also becoming pure. No one can become pure and sins cannot be absolved without the power of yoga. No one can become pure by bathing in water. This is the fire of yoga. Water extinguishes fire, whereas fire burns. So, water is not a fire through which your sins can be burnt. This one has had the most gurus and he has also studied a lot of scriptures. He was like a pandit in this birth, but there was no benefit through that. He didn’t become a pure or charitable soul; he just continued to commit sin. The Father has explained: Those of you who consider yourselves to be children should tell Baba about the sins etc. you have committed, as Baba is personally in front of you, and then that burden of sin will become light. You will become light in this birth. Then, you also have to make effort to remove the burdens of sin of many births that are on your heads. The Father is explaining to you about yoga. It is only with yoga that your sins will be absolved. Only at this time do you hear these things. No one can relate these things in the golden age. The whole drama is predestined. The whole drama continues to turn second by second; one second cannot be the same as the next. Your lifespan also continues to decrease second by second. You are now applying a brake to your lifespan being reduced and are increasing your lifespan with yoga. You children now have to increase your lifespan with the power of yoga. Baba emphasizes yoga a lot, but some don’t understand at all. They say: Baba, I forget You. This is why Baba says: Yoga is not anything else; it is just the pilgrimage of remembrance. By remembering the Father, your sins will continue to be cut away. Your final thoughts will lead you to your destination. There is also an example about this. One person said to another: You are a buffalo. So, he began to consider himself to be a buffalo and when he was told to come out of a door, he said: How can I come out of this door, since I am a buffalo? It was as though he truly had become a buffalo. That is just an example that they have made up. Otherwise, there is no one like that. That is not an accurate example. An example is always given of a thing that is based on something real. On the path of devotion people now celebrate festivals about the things that the Father explains to you at this time. They have so many melas etc., but whatever happens at this time is then made into a festival. You are becoming so clean here. People become so dirty at the melas. They rub mud on their bodies because they think that their sins will be erased through that . Baba himself has done all of that. The water in Nasik is very dirty. People go there and rub mud on themselves. They believe that their sins will be absolved. Then, they use water to clean off that mud. When some maharajas etc. went abroad, they used to carry an urn of Ganges water and drink that in the steamer. Previously, there were no aeroplanes or motors etc. Look at all the things they have invented in the last 100 to 150 years. All of this science will be useful at the beginning of the golden age. There, it doesn’t take them long to build palaces etc. Your intellects are now becoming divine and so they will be able to do all the work easily. Just as you have mud bricks here, so you have gold bricks there. There is a story of Maya that portrays this. (Bringing a gold brick from the subtle region). They just sat and made up a play to show that there truly are gold bricks in the golden age. That is called the golden age. This is called the iron age. Everyone remembers heaven. Their images exist all the time, and this is why they speak of the original, eternal, ancient religion. Then they speak of the Hindu religion. Because they become vicious, they call themselves Hindus instead of deities. How could they be called deities? Wherever you go, you have to explain this because you are messengers. You have to give the Father’s introduction to each and every one. Some will quickly understand that what you are saying is right and that you truly do have two fathers. Some would say that God is omnipresent. You understand that you receive a limited inheritance from one father and that you receive the unlimited inheritance from the parlokik Father for 21 births. You have this knowledge at this time. You don’t have this knowledge there. Only at the confluence age do you receive this inheritance so that you are then able to rule the kingdom for birth after birth for 21 generations. You become the masters of the whole world. You have come to know this now. There is no question of those whose intellects have firm faith having any doubts. You receive the unlimited inheritance from the unlimited Father. When Shiv Baba comes, He must surely give you the inheritance. This is why Baba says: This badge is very good. You must definitely wear it. You have to give this message to every home. Some will believe you and others will not. When destruction takes place, they will understand that God has come. Then, those to whom you gave the message will remember: Who were those angels dressed in white? You also see angels in the subtle region. You know that Mama and Baba become such angels with the power of yoga and so you can also become that. The Father enters this one and explains all of these things to you. He gives you knowledge directly. You children also have the knowledge in you that Baba has in Him. When you go up above, your parts of knowledge end, and you then play your parts of happiness that you have received and you also forget this knowledge. So, wherever you children go, you should always wear this badgeas a sign of being a messenger. Even if others laugh at you, it doesn’t matter. Why would they laugh at you since you are telling them right things? That One is the unlimited Father. His name is Shiv Baba. He is the Benefactor. He comes and establishes heaven. This is the most auspicious confluence age. You children have received all of this knowledge, and so why should you forget it? It is absolutely accurate. While you move along, you have to remember the Father and the inheritance: the land of peace and the land of happiness. You children come here and go back having heard the murli, and you then also have to relate it to others. It is not that only one Brahmin teacher reads the murli. Brahmin teachers have to make others the same as themselves and get them ready, because only then will they be able to benefit many. If one teacher goes away, can’t another teacher run that centre? Is it that no knowledge has been imbibed? Students should have the interest to study and teach others. The murli is very easy. Anyone can imbibe knowledge and conduct class. The Father is sitting here. The Father says to the children: You must not have any doubts about anything. It is only the one Father who knows everything. You have just the one aim and objective. There is no need to ask questions about this. I sit in the early morning and help you children on the pilgrimage of remembrance. I remember all the unlimited children. The whole world has to be made pure by you children with the help of your remembrance. It is in this that you each give your finger. The whole world has to be made pure. So, the Father keeps an eye on all the children. All will go to the land of peace. He draws everyone’s attention. The Father would also be sitting in the unlimited. I have come to purify the whole world. I am giving a current to the whole world so that it becomes pure. Those who have the full power of yoga would understand that Baba is now sitting here and teaching the pilgrimage of remembrance through which there will be peace in the world. When children stay in remembrance, they receive help. Children who can help are also needed. Only God’s helpers whose intellects have faith will remember the Father. Your first subject is to become pure. That is, you children become instruments along with the Father. You call out to the Father: O Purifier, come! What would He do by Himself? He needs helpers. You know that you will purify the world and then rule the whole world. When your intellects have such faith, you will have that intoxication. You children know that you are establishing your own kingdom for yourselves with the power of your yoga by following the Father’s shrimat. This intoxication should rise within you. This is something spiritual. You children know that every cycle Baba makes us into the masters of the world with this spiritual power. You also understand that Shiv Baba comes and establishes heaven. You now just have the concern of this pilgrimage of remembrance on your heads. You have to make effort. While doing your business etc., stay on the pilgrimage of remembrance. The Father inspires you to earn a huge income in order for you to become ever healthy. You now have to forget everything. We souls are now going back. You are made to practise being soul conscious. While eating, drinking, walking and moving around, can you not remember the Father? While sewing clothes, your intellects should be connected in yoga with the Father. This is very easy. You understand that the cycle of 84 births has now ended. The Father has now come to teach us souls Raja Yoga. This world history and geography continue to repeat. The same thing happened in the previous cycle too. It is being repeated now. Only the Father explains the secrets of this repetition to you. Each one has received a part in the drama which each one continues to play. Children are given advice: Remember the Father and you will become satopradhan and then your bodies will be shed. You souls now have it in your intellects that you have to become satopradhan because you now have to return home. You would not say this in the golden age. There, you would say: You have to shed one old body and take another. There, there is no question of sorrow. Here, this is the land of sorrow. They are an old bodies, and so you understand that you have to shed them and return home. You have to remember the Father constantly. That incorporeal Father alone is the Ocean of Knowledge. Only He comes and grants everyone salvation. The Father says: I also uplift the sages. You now have to have yoga with the one Father. All of you souls have a right to claim the inheritance from the Father. Consider yourselves to be souls and become soul conscious and constantly remember the Father and your sins will continue to be cut away. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Listen to the murli and then relate it to others. As well as studying, also teach others. Become benefactors. Your badge is a sign of you being a messenger. So, always wear your badge.
  2. In order to establish peace in the world, stay on the pilgrimage of remembrance. Just as the Father’s vision is unlimited and He gives a current to make the whole world pure, so, follow the Father and become His helpers too.
Blessing: May you donate as a great donor and a blessed soul to every soul who comes into connection or relationship with you.
Give whoever comes into a connection or relationship with you throughout the day a donation of one or another power, point of knowledge or virtue. You have treasures of knowledge, and also treasures of powers and virtues. So, let no day pass without your giving a donation and you would then be said to be a great donor. 2) The spiritual meaning of the word “donation” is co-operation. With the environment of your elevated stage and the vibrations of your attitude, give co-operation to every soul and you will then be said to be a blessed soul.
Slogan: The faces of those who are close to BapDada and the family smile with contentment, spirituality and happiness.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 25 MAY 2019 : AAJ KI MURLI

Today Murli 25 May 2019

25-05-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – इस जन्म के पापों से हल्का होने के लिए बाप को सच-सच सुनाओ और पिछले जन्मों के विकर्मों को योग अग्नि से समाप्त करो”
प्रश्नः- खुदाई खिदमतगार बनने के लिए कौन-सी एक चिंता (फुरना) चाहिए?
उत्तर:- हमें याद की यात्रा में रहकर पावन जरूर बनना है। पावन बनने का फुरना चाहिए। यही मुख्य सबजेक्ट है। जो बच्चे पावन बनते हैं वही बाप के खिदमतगार बन सकते। बाप अकेला क्या करेगा इसलिए बच्चों को श्रीमत पर अपने ही योगबल से विश्व को पावन बनाकर पावन राजधानी बनानी है। पहले स्वयं को पावन बनाना है।

ओम् शान्ति। यह तो जरूर बच्चे समझते हैं हम बाबा के पास जाते हैं रिफ्रेश होने के लिए। वहाँ सेन्टर्स पर जब जाते हैं तो ऐसे नहीं समझ सकते। तुम बच्चों की बुद्धि में है बाबा मधुबन में है। बाप की मुरली चलती ही है बच्चों के लिए। बच्चे समझेंगे हम जाते हैं मधुबन में मुरली सुनने। मुरली अक्षर कृष्ण के लिए समझ लिया है। मुरली का अर्थ कोई और नहीं है। तुम बच्चों को अब अच्छी तरह से समझ आई है ना। बाप ने समझाया है और तुम फील करते हो, बरोबर हम बहुत बेसमझ बन पड़े थे। ऐसे कोई भी अपने को समझते नहीं हैं। यहाँ जब आते हैं तब निश्चयबुद्धि होते हैं। बरोबर हम बहुत बेसमझ बन गये थे। तुम सतयुग में कितने समझदार, विश्व के मालिक थे। कोई मूर्ख थोड़ेही विश्व के मालिक बन सकते हैं। यह लक्ष्मी-नारायण विश्व के मालिक थे, इतने समझदार थे तब तो भक्ति मार्ग में पूजे जाते हैं। जड़ चित्र कुछ बोल तो नहीं सकते। शिवबाबा की पूजा करते हैं वह कुछ बोलते हैं क्या! शिवबाबा एक ही बार आकर बोलते हैं। पूजा करने वालों को भी पता नहीं है कि यह ज्ञान सुनाने वाला बाप है। कृष्ण के लिए समझते हैं उसने मुरली बजाई। जिसकी पूजा करते उनके आक्यूपेशन को बिल्कुल नहीं जानते। तो यह पूजा आदि निष्फल ही हो जायेगी, जब तक बाप आये। तुम बच्चों में कइयों ने वेद-शास्त्र आदि कुछ भी पढ़े नहीं है। अब तुम्हें एक सत्य बाप पढ़ा रहे हैं। तुम समझते हो बरोबर सच्चा पढ़ाने वाला एक ही बाप है। बाप को कहा ही जाता है सत्य। नर से नारायण बनने की सच्ची कथा सुनाते हैं। अर्थ तो ठीक है। सत्य बाप आते हैं, अब नर से नारायण बनना है तो जरूर सतयुग स्थापन करेंगे ना। पुरानी दुनिया कलियुग थोड़ेही बनेगी। कथा सुनने समय यह कोई को बुद्धि में नहीं होता है कि हम नर से नारायण बनेंगे। अभी तुमको नर से नारायण बनने का राजयोग सिखलाते हैं। यह भी कोई नई बात नहीं। बाप कहते हैं मैं कल्प-कल्प आकर समझाता हूँ। युगे-युगे कैसे आऊंगा! ब्रह्मा का चित्र दिखाकर तुम समझा सकते हो, यह रथ है। यह है बहुत जन्मों के अन्त का जन्म, पतित। अब यह भी पावन बनते हैं। हम भी बनते हैं। सिवाए योगबल के कोई पावन बन नहीं सकता। विकर्म विनाश हो न सके। पानी में स्नान करने से कोई पावन नहीं बनते। यह है योग अग्नि। पानी होता है आग को बुझाने वाला। आग होती है जलाने वाली। तो पानी कोई आग तो नहीं है, जिससे विकर्म विनाश हो। सबसे ज्यादा गुरू आदि इसने किये हैं, शास्त्र भी बहुत पढ़े। इस जन्म में जैसे पण्डित था लेकिन उससे फायदा तो कुछ भी नहीं हुआ। पुण्य आत्मा तो बनते ही नहीं। पाप ही करते आये। बाप ने समझाया है जो अपने को बच्चे समझते हैं तो इस जन्म में जो पाप आदि किये हैं, जबकि सम्मुख बाप आया है तो पाप कर्म बता देने चाहिए, तो हल्का हो जायेगा। इस जन्म में हल्के हो जायेंगे। फिर पुरूषार्थ करना है, जन्म-जन्मान्तर के पाप कर्म का बोझा जो सिर पर है उसे उतारना है। बाप योग की बात समझाते हैं। योग से ही विकर्म विनाश होंगे। यह बातें तुम अभी सुनते हो। सतयुग में यह बातें कोई सुना न सके। यह सारा ड्रामा बना हुआ है। सेकण्ड बाई सेकण्ड यह सारा ड्रामा फिरता रहता है। एक सेकण्ड न मिले दूसरे से। सेकण्ड बाई सेकण्ड आयु भी कम होती जाती है। अभी तुम आयु को कम होने से ब्रेक देते हो और योग से आयु को बढ़ाते हो। अब तुम बच्चों को अपनी आयु को बड़ा बनाना है योगबल से। योग के लिए बाबा बहुत ज़ोर देते हैं, परन्तु कई समझते नहीं। कहते हैं बाबा हम भूल जाते हैं। तब बाबा कहते हैं योग कोई और बात नहीं, यह है याद की यात्रा। बाप को याद करते-करते पाप कटते जायेंगे, अन्त मती सो गति हो जायेगी। इस पर एक मिसाल भी देते हैं – कोई ने किसको कहा तुम भैंस हो तो बस वह समझने लगा मैं तो भैंस हूँ। बोला, इस दरवाजे से निकलो। तो बोला मैं भैंस हूँ, कैसे निकलूँ! सचमुच जैसे भैंस बन गया। यह एक मिसाल बैठ बनाया है, बाकी कोई ऐसा है नहीं। यह कोई यथार्थ मिसाल नहीं है। हमेशा रीयल बात पर मिसाल दिया जाता है।

इस समय बाप तुमको जो समझाते हैं उनके फिर भक्ति मार्ग में त्योहार मनाये जाते हैं। कितने मेले मलाखड़े आदि होते हैं। बाकी इस समय जो कुछ होता है उनके त्योहार बन जाते हैं। तुम यहाँ कितने स्वच्छ बनते हो। मेले मलाखड़े में तो कितने मैले होते हैं, शरीर को मिट्टी मलते हैं। समझते हैं पाप मिट जायेंगे। बाबा का खुद यह सब किया हुआ है। नासिक में पानी बहुत गन्दा होता है। वहाँ जाकर मिट्टी मलते हैं। समझते हैं पाप विनाश हो जायेंगे। फिर उस मिट्टी को साफ करने के लिए पानी ले आते हैं। विलायत में कोई बड़े महाराजा आदि जाते थे तो गंगा जल का मटका साथ ले जाते थे फिर स्टीमर में वही पानी पीते थे। आगे एरोप्लेन, मोटर आदि थे नहीं। 100-150 वर्षों में क्या-क्या बन गया है! सतयुग आदि में यह साइन्स आदि काम में आती है। वहाँ तो महल आदि बनाने करने में देरी नहीं लगती। अभी तुम्हारी बुद्धि पारसबुद्धि बनती है तो सब काम सहज कर लेती है। जैसे यहाँ मिट्टी की इंटें बनती हैं, वहाँ सोने की होती हैं। इस पर माया मच्छन्दर का खेल भी दिखाते हैं। यह तो उन्होंने नाटक बैठ बनाये हैं, दिखाने के लिए। बरोबर स्वर्ग में सोने की इंटें हैं। उसको कहा ही जाता है गोल्डन एज। इसको कहा जाता है आइरन एज। स्वर्ग को तो सभी याद करते हैं। चित्र भी उन्हों के कायम हैं। कहते भी हैं आदि सनातन धर्म, फिर हिन्दू धर्म कह देते हैं। देवता के बदले हिन्दू कह देते हैं क्योंकि विकारी हैं तो देवता कैसे कहें। तुम कहाँ भी जाते हो तो यह समझाते हो क्योंकि तुम हो मैसेन्जर, पैगम्बर। बाप का परिचय हर एक को देना है। कोई झट समझेंगे कि बरोबर तुम ठीक कहते हो। दो बाप बरोबर हैं। कोई कह देंगे परमात्मा तो सर्वव्यापी है। तुम समझते हो एक से हद का वर्सा मिलता है। पारलौकिक बाप से बेहद का वर्सा मिलता है 21 जन्म के लिए। यह ज्ञान भी अभी है। वहाँ यह ज्ञान नहीं रहता। संगम पर ही वर्सा मिलता है जो फिर 21 पीढ़ी जन्म बाई जन्म तुम राज्य करते हो। तुम सारे विश्व के मालिक बनते हो। यह तुमको अभी मालूम पड़ा है। जो पक्के निश्चयबुद्धि हैं उनको कोई संशय उठाने की बात ही नहीं। बेहद के बाप से बेहद का वर्सा मिलता है। शिवबाबा आयेंगे तो जरूर कुछ वर्सा देते होंगे इसलिए बाबा कहते हैं यह बैज़ बहुत अच्छा है। यह जरूर पड़ा हो। घर-घर में मैसेज देना है फिर कोई माने या न माने। विनाश आयेगा तो समझेंगे भगवान् आया हुआ है। फिर जिन्हों को तुमने मैसेज़ दिया होगा, वे याद करेंगे कि यह सफेद पोश वाले फ़रिश्ते कौन थे? सूक्ष्मवतन में भी तुम फ़रिश्ते देखते हो ना! तुम जानते हो मम्मा-बाबा योगबल से ऐसा फ़रिश्ता बनते हैं, तो हम भी बनेंगे। यह सब बातें बाप इसमें प्रवेश कर तुमको समझाते हैं। डायरेक्ट नॉलेज देते हैं। जो बाबा में नॉलेज है वह तुम बच्चों में भी है। जब ऊपर में जाते हो तो नॉलेज का पार्ट भी पूरा हो जाता है। फिर जो पार्ट मिला है वह सुख का पार्ट बजाते हैं और यह नॉलेज भूल जाती है।

तो तुम बच्चे कहाँ भी जाते हो तो मैसेन्जर की निशानी – यह बैज साथ में जरूर चाहिए। भल कोई हंसी करे। इस पर क्या हंसी करेंगे। तुम तो यथार्थ बात सुनाते हो। यह बेहद का बाप है। उनका नाम है शिवबाबा, वह कल्याणकारी है। आकर स्वर्ग की स्थापना करते हैं। यह है पुरूषोत्तम संगमयुग। यह सारा ज्ञान तुम बच्चों को मिला है। फिर भूलना क्यों चाहिए। बात तो बिल्कुल सहज है। चलते-फिरते बाप और वर्से को याद करना है। शान्तिधाम और सुखधाम। तुम बच्चे यहाँ आते हो मुरली सुनकर जाते हो फिर सुनानी भी चाहिए। ऐसे नहीं सिर्फ एक ही ब्राह्मणी मुरली चलाये। ब्राह्मणी को आप समान बनाकर तैयार करना चाहिए, तब बहुतों का कल्याण कर सकेंगे। अगर एक ब्राह्मणी कहाँ चली जाती है तो दूसरी क्यों नहीं सेन्टर चला सकती! क्या धारणा नहीं की है? स्टूडेन्ट को पढ़ने और पढ़ाने का शौक चाहिए। मुरली तो बहुत सहज है, कोई भी धारण कर क्लास करा सकते हैं। यहाँ तो बाप बैठे हैं। बाप बच्चों को कहते हैं कोई भी बात में संशय नहीं होना चाहिए। एक बाप ही है जो सब कुछ जानते हैं। एक ही एम-आबजेक्ट है, इसमें कोई प्रश्न आदि पूछने का भी नहीं रहता। सुबह को भी बैठ बच्चों को याद की यात्रा में मदद करता हूँ। सारे बेहद के बच्चे याद रहते हैं। तुम सब बच्चों को इस याद की मदद से सारे विश्व को पावन बनाना है, इसमें ही तुम अंगुली देते हो। पवित्र तो सारी दुनिया को बनाना है ना। तो बाप सभी बच्चों पर नज़र रखते हैं ना। सब शान्तिधाम में चले जायें। सबका अटेन्शन खिंचवाते हैं। बाप तो बेहद में ही बैठेंगे। मैं आया हूँ सारी दुनिया को पावन बनाने। सारी दुनिया को करेन्ट दे रहा हूँ तो पवित्र हो जाएं। जिनका पूरा योगबल होगा वह समझेंगे बाबा अभी बैठकर याद की यात्रा सिखला रहे हैं, जिससे विश्व में शान्ति होती है। बच्चे भी याद में रहते हैं तो मदद मिलती है। मददगार बच्चे भी चाहिए ना। खुदाई खिदमतगार, निश्चयबुद्धि ही याद करेंगे। तुम्हारी पहली सबजेक्ट है ही पावन बनने की। गोया तुम बच्चे निमित्त बनते हो बाप के साथ। बाप को बुलाते ही हैं – हे पतित-पावन आओ। अब वह अकेला क्या करेगा। ख‍िदमतगार चाहिए ना। तुम जानते हो हम विश्व को पवित्र बनाकर फिर सारे विश्व पर राज्य करेंगे। बुद्धि में जब ऐसा निश्चय होगा तब नशा चढ़ेगा। तुम बच्चे जानते हो हम बाप की श्रीमत से, अपने योगबल से अपने लिए राजधानी स्थापन कर रहे हैं। यह नशा चढ़ना चाहिए। यह है रूहानी बात। बच्चे समझते हैं हर कल्प बाबा इस रूहानी बल से हमको विश्व का मालिक बनाते हैं। यह भी समझते हो कि शिवबाबा आकर स्वर्ग की स्थापना करते हैं। अभी सिर पर इस याद की यात्रा का ही फुरना है। पुरूषार्थ करना है। धन्धा आदि करते भी याद की यात्रा रहे। एवरहेल्दी बनाने के लिए बाप कमाई बड़ी जबरदस्त कराते हैं। इस समय सब कुछ भुलाना पड़ता है। हम आत्मायें जा रही हैं, आत्म-अभिमानी बनने की प्रैक्टिस कराई जाती है। खाते-पीते, चलते-फिरते यह क्या बाप को याद नहीं कर सकते, कपड़ा सिलाई करते, बुद्धियोग बाप की याद में रहे। बहुत सहज है। यह तो समझते हो 84 का चक्र पूरा हुआ है। अभी बाप हम आत्माओं को राजयोग सिखलाने आये हैं। यह वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी रिपीट होती रहती है। कल्प पहले भी ऐसे हुआ था, जो अब फिर रिपीट हो रहा है। यह रिपीटेशन का राज़ भी बाप ही समझाते हैं। हर एक को ड्रामा में पार्ट मिला हुआ है, वह बजाते रहते हैं। बच्चों को राय दी जाती है कि बाप को याद करो तो सतोप्रधान बनेंगे। फिर यह शरीर भी छूट जायेगा। तुम्हारी बुद्धि में अब यही है कि हम आत्मा सतोप्रधान बनें क्योंकि वापिस घर जाना है। सतयुग में ऐसे नहीं कहेंगे। वहाँ तो कहेंगे एक पुराना शरीर छोड़ दूसरा लेना है। वहाँ तो दु:ख की बात नहीं। यहाँ यह दु:खधाम है। पुराने शरीर हैं तो समझते हैं इनको छोड़ अब वापिस अपने घर जायें। बाप को निरन्तर याद करना है। वह निराकार बाप ही ज्ञान का सागर है। वही आकर सबकी सद्गति करते हैं। बाप कहते हैं साधुओं का भी उद्धार करता हूँ। तुम अब एक बाप से योग लगाओ। तुम सब आत्माओं को बाप से वर्सा लेने का हक है। अपने को आत्मा समझ देही-अभिमानी बनो और बाप को निरन्तर याद करो तो पाप कटते जायेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) मुरली सुनकर फिर सुनानी है। पढ़ने के साथ-साथ पढ़ाना भी है। कल्याणकारी बनना है। बैज मैसेन्जर की निशानी है, यह सदा लगाकर रखना है।

2) विश्व में शान्ति स्थापन करने के लिए याद की यात्रा में रहना है। जैसे बाप की नज़र बेहद में रहती है, सारी दुनिया को पावन बनाने के लिए करेन्ट देते हैं, ऐसे फालो फादर कर मददगार बनना है।

वरदान:- हर आत्मा के सम्बन्ध सम्पर्क में आते सबको दान देने वाले महादानी, वरदानी भव
सारे दिन में जो भी सम्बन्ध-सम्पर्क में आये उसे कोई न कोई शक्ति का, ज्ञान का, गुण का दान दो। आपके पास ज्ञान का भी खजाना है, तो शक्तियों और गुणों का भी खजाना है। तो कोई भी दिन बिना दान दिये खाली न जाए तब कहेंगे महादानी। 2- दान शब्द का रूहानी अर्थ है सहयोग देना। तो अपनी श्रेष्ठ स्थिति के वायुमण्डल द्वारा और अपनी वृत्ति के वायब्रेशन्स द्वारा हर आत्मा को सहयोग दो तब कहेंगे वरदानी।
स्लोगन:- जो बापदादा और परिवार के समीप हैं उनके चेहरे पर सन्तुष्टता, रूहानियत और प्रसन्नता की मुस्कराहट रहती है।

TODAY MURLI 25 MAY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 25 May 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 24 May 2018 :- Click Here

25/05/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: O My sweet, beloved children, stay awake at night and remember the most beloved Father. Become soul conscious. Shrimat says: Become as egoless as the Father.
Question: Why are the directions of Brahma as well known as the directions of Shiv Baba?
Answer: Because Brahma Baba is the only specially beloved child of Shiv Baba. He has no ego of his own directions. He always says: Always think it is the Father’s shrimat. Only in that is there benefit for you. Look how egoless Baba is! He says to the mothers: Salutations to the mothers. The mothers are the Ganges of Knowledge, the Shakti Army, and they have to be kept at the front and given regard. There mustn’t be body consciousness about this.
Song: The rain of knowledge is on those who are with the Beloved.

Om shanti. You children heard the first line of the song. It says: Those who are with the Beloved. However, as you are together, there is no question of living together. Those who belong to the Father are with Him anyway. There is the rain of knowledge for the Brahmins who belong to the Father, wherever they live. This shower of knowledge is for those who become the grandchildren of Shiv Baba and promise: Baba, we will always remain pure and drink the nectar of knowledge. Nectar is not water; it is in comparison to poison that knowledge is called nectar. So, you are the Pandava community. There is the memorial of the Yadava community and the Kaurava community: What are they doing? There is the rain of the nectar of knowledge on you Pandavas. However, there is no rain of the nectar of knowledge on the Yadavas or the Kauravas. You children know that there are many Yadavas and Kauravas and very few Pandavas. It is remembered: Rama went and Ravan, whose community was very large, went. There are few Pandavas in Rama’s community. This is the Pandava Government,that is, those who are following shrimat. This is like God’s Government, but it is incognito. You know that you are following shrimat and taking the boat of Bharat across. Those who follow shrimat are taking their own boats across. The Yadavas and Kauravas have so many palaces. You children don’t have anything. You don’t even have three feet of land. Everything belongs to them. It is also remembered that those who didn’t have three feet of land were victorious and became the masters of the world. The Pandava Shakti Army is incognito. It has been shown in the scripture that the Pandavas lost their kingdom when they gambled. There was not a kingdom nor was there any question of gambling. All of those are lies. You truly are the Pandavas. Shiv Baba is the spiritual Guide. He has come to teach you children the spiritual pilgrimage. He gives you shrimat through the body of Brahma. Just as Shiv Baba’s shrimat is remembered, similarly, the directions of Brahma are also remembered, because, after all, he is Shiv Baba’s one and only beloved, special child. So many mouth-born children are created through this one. He enables you to tie the bracelet of purity and says: The more you follow my directions, the more your lives will become like a diamond; you will become most beloved. Shiv Baba says: This one’s (Brahma’s) connection and your connection are with Me. You receive a birth like a diamond, and so you have to become soul conscious. The more you remember Shiv Baba, the more soul conscious you will become and the less Maya will attack you. BapDada’s vision is always on you children. If children do anything unlawful, they defame BapDada’s name, and so they have to be given teachings: Don’t perform such actions. For those who defame the name, it is said: Those who defame the Satguru cannot claim an elevated status. You mustn’t perform any such wrong actions. You children know that to the extent you remember Baba, your sins will accordingly be absolved. Only those who stay in remembrance are said to be soul conscious. When you remain body conscious, there will be a strong attack from Maya. The destination is very high. You are receiving a scholarship. There are so many who will become Brahmins: three hundred and thirty million deities have been remembered. Those who become soul conscious become part of the rosary of victory. To become body conscious means to be attacked by Maya. To be soul conscious means to belong to the Father. This is something very subtle. Make effort and remember the Father. He is the Father and also the Bridegroom. He is the One who gives limitless happiness. He says: I have brought heaven on the palm of My hand for you children. You simply have to follow shrimat. Shrimat says: May you be soul conscious! Body consciousness has made your boat sink. Maya makes you body conscious. All have forgotten the spiritual Father. The Father has now come and given His introduction. Consider yourself to be a bodiless soul. Only Shiv Baba and the inheritance (the kingdom of heaven) is mine. That’s all. If you say “mine” out of body consciousness, you won’t be able to claim the kingdom of heaven. I am a soul. Have this firm faith. Remove the confusion your intellects have of a soul being the Supreme Soul. Become soul conscious now! Remember the Father and your boat will go across. Follow shrimat. If you don’t become soul conscious, Maya will sink your boat. Maya has sunk the boats of many in this way because they don’t follow shrimat. This is a battlefield. You must not be defeated in any situation. The evil spirit of lust will totally break you into pieces. The second number is the evil spirit of anger. People even kill each other in anger. The anger of the Yadavas is to increase. They will become completely like devils. Anger too is a very strong enemy. If you don’t conquer lust, you won’t be able to become the masters of the pure world. Anger is such an enemy that it causes sorrow for the self and for others. This too is destiny. What are the Yadavas, Kauravas and Pandavas now doing? Only you know this now.This is the Pandava Government. You can see that it is now no longer the kingdom of the Pandavas. You don’t receive even three feet of land. Look how much splendour they have. Amongst you children, there are very few who have the intoxication of becoming Narayan. All other types of intoxication cause damage. There is also a lot of damage done by being body conscious. The Father explains: Always remember Shiv Baba. Don’t think that this Brahma is giving you knowledge. He explains: Remember Shiv Baba. Shiv Baba says: Have yoga with Me. Even this Brahma has yoga with Me. If you remember Me, I will continue to help you. When you become body conscious, Maya will continue to attack you and you will then continue to cause one another sorrow. These two are the biggest enemies. It is numberwise. Lust and anger are visible vices. Attachment, greed, etc. are incognito. Therefore, you have to conquer these evil spirits. The Father says: At present, you don’t receive even three feet of land and I am making you into the masters of the world again. It is always the Father’s desire that His children glorify His name. When someone asks, “Whose child are you?” you should answer with great intoxication. Oho, the Father has made us children very elevated. When a father’s physical children become engineer sbarrister s or something else, he is very pleased. Some children don’t hesitate in losing their father’s honour. You have to increase your Father’s honour. For children who defame the name of their clan, their father would say: It would be better if you were dead! This Father too says: By being angry and lustful, you defame the name of the Godly clan. You have to claim your full inheritance from the Father. You can see that Mama and Baba become the number one Lakshmi and Narayan. So, why should you not win their throne? You truly win the throne of the mother and father. When their children claim the throne, they themselves descend. The kingdom is now being established. The Father says: Claim the kingdom. Don’t be one of the subjects. You should have the intoxication of becoming Narayan. Although there are very wealthy ones among the subjects, they would still be called subjects. There are some people who are wealthier than the kings. At this time, the Government is bankrupt. They take loans and so the people are wealthier, are they not? The Father explains: You know that the Government of Bharat was of Lakshmi and Narayan and that they are now becoming that once again. Your boat goes across by following the Father’s shrimat. You will become elevated. Otherwise, Maya will eat you. She has swallowed many. Although they went away from here, they have now become millionaires. Those who used to sell vegetables have today become multimillionaires. They come to Baba and say: Baba, I now have a lot of wealth. Baba says: There is a great burden on you. You took a lot of sustenance from Shiv Baba. That is a debt and you must therefore remains very cautious. So, they also feel that they should remove their burden. Baba has met many like that. You daughters came running in Karachi. Did you bring anything with you at that time? Nothing at all! You were sustained from Shiv Baba’s treasure-store. We children were all sustained with the wealth of those who surrendered themselves to Shiv Baba. This Baba did not know that they would all get together and come here in that way. Shiv Baba made it enter their intellects that the bhatthi had to be created, and so all of them came running. So, some surrendered themselves to sustain all of them. Then some of them ran away; Maya defeated them. Maya is no less powerful. You now have to conquer her with remembrance of the Father. Don’t use the word yoga. Some children say: Make us sit in yoga. However, if this habit is instilled, you won’t be able to stay in remembrance while walking and moving along. You mustn’t teach new ones to sit specially in yoga. When you make new ones sit in front of you, they become trapped in name and form. This is what experience says and this is why it is forbidden. Do you have to sit somewhere in order to remember your mother and father? Remember Baba while walking, sitting and doing service. Those who are Baba’s especially beloved children will even stay awake at night and remember Baba. Baba is the most beloved and He makes you into the masters of the world and so why would you not remember Him? You receive the inheritance of a lot of happiness from the parlokik Father. Make effort and work hard from now and you will experience the Godly reward for birth after birth. It isn’t that you receive the kingdom by performing such actions there in the golden age. No; you receive the reward there for the effort you make here at this time. The status is very high. Many came in the beginning and they were amazed. They heard the knowledge, they related it to others and then they ran away. Many established centres and then ran away and fell. Some established centres and then gradually fell. Maya is wonderful, is she not? Maya quickly catches hold of you by the nose. Therefore, the Father says: Constantly remember Me. Always think that it is Shiv Baba who is explaining to you. Mama was cleverer than this one. Baba is incorporeal and egoless. You children also have to understand: I am an incorporeal soul. I have to become egoless. Only then will you claim your inheritance. There shouldn’t be any body consciousness. You have to become very sweet. Maya doesn’t exist there. So, why should you not claim your inheritance from the Father and become Baba’s right hand s ? Who becomes that? Those who establish centres. They perform wonders. They benefit so many. Some establish centres and then go away. They receive the fruit of that too. On the one hand, they accumulate, and on the other hand, they incur a loss. The Father knows this. Brahma too can know this. This one is the only especially beloved child. All of you are grandchildren. You know that Mama became number one. Baba claims the second number. So, mothers have to be given a lot of regard. Baba says: Salutations to the mothers. Therefore, you children also have to say: Salutations to the mothers. There cannot be upliftment without the mothers. In fact, all are Sitas. All are brides of the one Bridegroom, that is, all are the children of the one Father. The Father Himself says: Salutations to the mothers. Whatever actions children see me perform, they will do the same. So, the mothers have to be looked after. They are assaulted a great deal. When someone creates obstacles, the poor helpless mothers become tied in bondage. This is how the urn of sin becomes full. When the devils beat them, they become sinful souls. All of this is according to the drama. No one can erase this. Each one will claim his own inheritance exactly as his did in the previous cycle. Visions are received about who the good helpers are. Shiv Baba says: I am the Bestower; I do not take anything. If you think that you are giving something, if you have that ego, you die. Shiv Baba says: You give pebbles and stones and receive so much in return. Baba is always the Bestower. “I am giving to Shiv Baba” should never enter your intellect. “I give one paisa and receive one hundred thousand in return; I receive the fortune of the kingdom for 21 births.” The Father is the Bestower of Salvation; He is the One who fills your aprons. You have to make incognito donations. Baba too is incognito. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become soul conscious and definitely conquer Maya. Stay awake at night and remember the most beloved Father.
  2. Become incorporeal and egoless, the same as the Father. You must never even think that you are giving to Shiv Baba.
Blessing: May you be generous-hearted and with the alokik method of give and take, become constantly full of specialities.
When you go to a fair (mela) you have to pay money for whatever you get. Before you receive anything, you first have to give. In this spiritual fair too, you take something or other from the Father or one another, that is, you instil it into yourself. When you imbibe any virtue or speciality, all ordinariness automatically finishes. By your imbibing virtues, weaknesses automatically finish. So this becomes a form of giving. Be generous-hearted in having such an exchange at every second and you will become full of specialities.
Slogan: Use your specialities and you will experience progress at every step.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 25 MAY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 25 May 2018

To Read Murli 24 May 2018 :- Click Here
25-05-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

” हे मीठे लाल – रात को जागकर मोस्ट बिलवेड बाप को याद करो , देही – अभिमानी बनो , श्रीमत कहती है बाप समान निरहंकारी बनो “
प्रश्नः- शिवबाबा के साथ ब्रह्मा की मत बहुत नामीग्रामी है – क्यों?
उत्तर:- क्योंकि ब्रह्मा बाबा शिवबाबा का एक ही मुरब्बी बच्चा है। इसे अपनी मत का अहंकार नहीं है। सदैव कहते हैं – तुम हमेशा बाप की ही श्रीमत समझो, इसमें ही तुम्हारा कल्याण है। बाबा देखो कितना निरहंकारी है, माताओं को कहते हैं वन्दे मातरम्। मातायें ज्ञान गंगा हैं, शक्ति सेना हैं, इन्हें आगे रखना है, रिगार्ड देना है। इसमें देह-अभिमान नहीं आना चाहिए।
गीत:- जो पिया के साथ है…

ओम् शान्ति। गीत की पहली लाइन बच्चों ने सुनी। कहते हैं जो पिया के साथ है….। परन्तु साथ में इकट्ठे रहने का क्वेश्चन ही नहीं उठता। जो बाप के बने हैं वे साथ हैं ही। जो बाप के बनते हैं वे ब्राह्मण भल कहाँ भी रहें उनके लिए तो ज्ञान बरसात है। जो शिवबाबा के पोत्रे-पोत्रियाँ बन प्रतिज्ञा करते हैं – बाबा, हम सदा पवित्र रहेंगे, ज्ञान अमृत पियेंगे – उनके लिए ही ज्ञान की बरसात है। अमृत कोई जल नहीं, ज़हर की भेंट में ज्ञान को अमृत कहा गया है। तो तुम हो पाण्डव सम्प्रदाय। यादव सम्प्रदाय, कौरव सम्प्रदाय का गायन है ना – क्या करत भये। तुम पाण्डवों पर है ज्ञान अमृत की बरसात। बाकी जो कौरव-यादव हैं उन पर ज्ञान अमृत की बरसात नहीं है। यह भी बच्चे जानते हैं – यादव-कौरव बहुत हैं। पाण्डव बहुत थोड़े हैं। गाया भी जाता है राम गयो, रावण गयो.. जिनकी बहुत सम्प्रदाय है। राम की सम्प्रदाय पाण्डव बहुत थोड़े हैं। यह है पाण्डव गवर्मेन्ट, श्रीमत पर चलने वाले। यह जैसे भगवान की गवर्मेन्ट है। परन्तु है गुप्त। तुम जानते हो हम श्रीमत पर चल भारत का बेड़ा पार कर रहे हैं। जो श्रीमत पर चलते हैं वे अपना बेड़ा पार करते हैं। यादव और कौरवों के पास कितने महल हैं। तुम बच्चों को कुछ भी नहीं। तीन पैर पृथ्वी के भी तुम्हारे नहीं। सब उन्हों का है। यह भी गाया हुआ है, जिनको तीन पैर पृथ्वी के नहीं मिलते थे उन्हों की विजय हुई और वह विश्व के मालिक बन गये। पाण्डव शक्ति सेना गुप्त है। शास्त्रों में भी दिखाते हैं जुआ खेला, पाण्डवों का राज्य था फिर जुआ में हराया, अभी न तो है राज्य, न है जुआ की बात। यह सब झूठ है। तुम बरोबर पाण्डव हो। शिवबाबा है रूहानी पण्डा। बच्चों को रूहानी यात्रा सिखलाने आया है। इस ब्रह्मा तन से श्रीमत देते हैं। जैसे शिवबाबा की श्रीमत गाई हुई है, वैसे ब्रह्मा की भी गाई हुई है क्योंकि फिर भी शिवबाबा का एक ही मुरब्बी बच्चा है। इस द्वारा कितने मुखवंशावली रचे जाते हैं। पवित्रता का कंगन बँधवाकर कहते हैं – जितना मेरी मत पर चलेंगे उतना मोस्ट बिलवेड बनेंगे। तुम्हारा हीरे जैसा जीवन बनेगा। शिवबाबा कहते हैं – इनका (ब्रह्मा का) और तुम्हारा कनेक्शन मेरे साथ है। हीरे जैसा जन्म तुमको मिलता है इसलिए अब देही-अभिमानी बनो। जितना शिवबाबा को याद करेंगे उतना देही-अभिमानी बनेंगे तो माया वार नहीं करेगी।

बापदादा की हमेशा बच्चों पर नज़र रहती है। अगर बच्चे कुछ भी बेकायदे चलते हैं तो बापदादा का नाम बदनाम करते हैं। तो शिक्षा देनी पड़ती है – ऐसे काम नहीं करना। नाम बदनाम करने वाले के लिए कहा जाता है सतगुरू का निंदक ठौर न पाये। ऐसा कोई उल्टा कर्तव्य नहीं करना है। तुम बच्चे जानते हो – जितना बाबा को याद करेंगे उतना विकर्म विनाश होंगे। याद में रहने वाले को ही देही-अभिमानी कहा जाता है। देह-अभिमान होने से माया का वार जोर से होगा। बड़ी मंजिल है। स्कॉलरशिप लेते हैं। कितने ब्राह्मण बनने वाले हैं। गाया जाता है 33 करोड़ देवी-देवतायें। विजय माला में वह आते हैं जो देही-अभिमानी बनते हैं। देह-अभिमानी बनना माना माया का वार होना। देही-अभिमानी बनना माना बाप का बनना। यह बात बड़ी सूक्ष्म है। पुरुषार्थ कर बाप को याद करना है। वह बाप भी है, साजन भी है। अपार सुख देने वाला है। कहते हैं तुम बच्चों के लिए हथेली पर बहिश्त ले आया हूँ। सिर्फ तुम श्रीमत पर चलो। श्रीमत कहती है देही-अभिमानी भव। देह-अभिमान ने तुम्हारा बेड़ा गर्क किया है। माया तुमको देह-अभिमानी बनाती है। रूहानी बाप को सब भूले हुए हैं। अभी बाप ने आकर परिचय दिया है। तुम अपने को अशरीरी आत्मा समझो। मेरा तो शिवबाबा और वर्सा (स्वर्ग की राजाई) बस। देह-अभिमान में आकर मेरा कहा तो स्वर्ग का राज्य ले नहीं सकेंगे। हम आत्मा हैं – यह पक्का निश्चय करो। यह जो आत्मा सो परमात्मा का भूसा बुद्धि में भरा हुआ है, वह निकाल दो। अभी देही-अभिमानी बनो। बाप को याद करो तो तुम्हारा बेड़ा पार होगा। श्रीमत पर चलो। देही-अभिमानी नहीं बनेंगे तो माया बेड़ा गर्क कर देगी। ऐसे बहुतों का बेड़ा माया ने गर्क किया है क्योंकि श्रीमत पर नहीं चलते हैं। युद्ध का मैदान है। तुम्हें किसी भी बात में हार नहीं खानी है। काम का भूत तो एकदम पुर्जा-पुर्जा (टुकड़ा-टुकड़ा) कर देता है। सेकेण्ड नम्बर है क्रोध का भूत। क्रोध से एक दो को मारकर खलास करते हैं। यादवों का क्रोध बढ़ेगा। एकदम जैसे डेविल बन जायेंगे। क्रोध भी बड़ा भारी दुश्मन है। काम को नहीं जीता तो पवित्र दुनिया का मालिक बन नहीं सकेंगे। क्रोध दुश्मन भी ऐसा है जो खुद को भी और औरों को भी दु:ख देते हैं। यह भी है भावी। अब यादव, कौरव, पाण्डव क्या करते हैं? यह तुम ही जानते हो। यह है पाण्डव गवर्मेन्ट। अब तुम देखते हो पाण्डवों का राज्य तो है नहीं। तीन पैर पृथ्वी के भी नहीं मिलते हैं। उन्हों का तो देखो कितना दबदबा है। तुम बच्चों में बहुत थोड़े हैं जो नारायणी नशे में रहते हैं। नशे सभी में है नुकसान। देह-अभिमान में आने से बड़ा नुकसान है। तो बाप समझाते हैं तुम सदैव शिवबाबा को याद करो। ऐसे मत समझो यह ब्रह्मा ज्ञान देते हैं। समझाते हैं शिव बाबा को याद करो। शिवबाबा कहते हैं मेरे साथ योग लगाओ। यह ब्रह्मा भी मेरे साथ योग लगाते हैं। मुझे याद करेंगे तो मैं मदद करता रहूँगा। देह-अभिमानी बनने से माया वार करती रहेगी। और फिर एक दो को दु:ख देते रहेंगे। इसमें भी दो हैं बड़े दुश्मन। नम्बरवार तो होते हैं ना। काम-क्रोध है प्रत्यक्ष विकार। मोह-लोभ आदि तो गुप्त हैं। तो इन भूतों पर विजय पानी है।

बाप कहते हैं अभी तुमको तीन पैर पृथ्वी के नहीं मिलते हैं, मैं फिर तुमको विश्व का मालिक बनाता हूँ। बाप की हमेशा दिल होती है बच्चा नाम निकाले। कोई पूछे तुम किसके बच्चे हो, तो फ़लक से उत्तर देना चाहिए। ओहो, बाप ने बच्चों को बहुत ऊंचा बनाया है। लौकिक बच्चे होते हैं कोई इन्जीनियर, कोई बैरिस्टर, कोई क्या – तो बाप खुश होते हैं। कोई-कोई बच्चे तो बाप की इज्जत लेने में भी देरी नहीं करते हैं। तुमको तो बाप की इज्जत बढ़ानी है ना। कुल कलंकित बच्चे के लिए तो बाप कहेंगे मुआ भला। यह बाप भी ऐसे कहेंगे तुम कामी, क्रोधी बनकर ईश्वरीय कुल को कलंक लगाते हो। बाप से वर्सा तो पूरा लेना चाहिए। देखते हो यह मम्मा-बाबा पहले नम्बर में लक्ष्मी-नारायण बनते हैं। तो क्यों न हम उनके तख्त पर जीत पा लें। बरोबर तुम माँ-बाप के तख्त को जीतते हो ना। बच्चे तख्त पर बैठेंगे तो खुद नीचे आ जायेंगे। अब राजधानी स्थापन हो रही है। बाप कहते हैं राजाई प्राप्त करो। प्रजा में नहीं जाना है। नारायणी नशा रहना चाहिए। भल प्रजा में भी बहुत धनवान होते हैं, परन्तु फिर भी प्रजा कहेंगे ना। राजाओं से भी प्रजा में साहूकार होते हैं। इस समय गवर्मेन्ट कंगाल है। कर्जा लेती है तो प्रजा साहूकार हुई ना। बाप समझाते हैं तुम जानते हो भारत की गवर्मेन्ट यह लक्ष्मी-नारायण थे, अब फिर बन रहे हैं। बाप की श्रीमत पर चलने से बेड़ा पार होता है। श्रेष्ठ बनेंगे। नहीं तो माया खा जायेगी। बहुतों को खा गई है। भल यहाँ से निकले हैं, बड़े लखपति बन गये हैं। भाजी (सब्जी) बेचने वाले आज करोड़पति हो गये हैं। बाबा के पास आते हैं, कहते हैं बाबा अभी तो पैसा बहुत हो गया है। बाबा कहते हैं तुम्हारे ऊपर बोझा बहुत है, शिवबाबा से तुमने पालना बहुत ली है। कर्जा हुआ ना, इसलिए खबरदार रहना। तो वे भी समझते हैं बोझा उतार लेवें। ऐसे बहुत मिलते हैं। कराची में तुम बच्चियाँ भागी थी। कुछ ले आई थी क्या? कुछ भी नहीं। शिवबाबा के खजाने से तुम्हारी परवरिश हुई। जो कोई-कोई शिवबाबा के पिछाड़ी सरेण्डर हुए उनसे तुम बच्चों की पालना हुई। इस बाबा को थोड़े-ही पता था कि यह आपस में मिलकर ऐसे आ जायेंगे। शिवबाबा ने उनकी बुद्धि में डाला और भट्ठी बननी थी, तो सब भागकर आ गये। तो परवरिश के लिए भी कोई बलि चढ़े। फिर उनसे कई भाग गये। माया ने हार खिला दी। माया भी कोई कम समर्थ नहीं है। अब उस पर जीत पानी है बाप की याद से। योग अक्षर नहीं बोलो। कई बच्चे कहते हैं योग में बिठाओ। लेकिन यह आदत पड़ जायेगी तो चलते-फिरते तुम याद नहीं कर सकेंगे। नयों को भी यह नहीं सिखाना है कि योग में बैठो। नये को तुम अपने सामने बिठाते हो तो वह नाम-रूप में फँस पड़ता है। अनुभव ऐसा कहता है, इसलिए मना की जाती है। माँ-बाप को एक जगह याद करना होता है क्या? तुम उठते-बैठते, सर्विस करते बाबा को याद करो। बाबा के जो लाल होंगे, वे रात को जागकर भी याद करते रहेंगे। ऐसा मोस्ट बिलवेड बाबा जिससे विश्व का मालिक बनते हैं, तो क्यों न उनको याद करेंगे।

पारलौकिक बाप से अथाह सुख का वर्सा मिलता है। तुम अभी से पुरुषार्थ करते हो, मेहनत करते हो जो फिर जन्म-जन्मान्तर ईश्वरीय प्रालब्ध तुम भोगते हो। ऐसे नहीं, वहाँ सतयुग में तुम ऐसे कर्म करते हो तब राजाई मिलती है। नहीं, यहाँ के ही पुरुषार्थ से प्रालब्ध पाते हो। बड़ा भारी पद है। ऐसे बहुत आये फिर आश्चर्यवत सुनन्ती, कथन्ती, फिर भागन्ती हो गये। बहुत सेन्टर्स भी स्थापन करन्ती, फिर भागन्ती, गिरन्ती हो गये.. कोई सेन्टर स्थापन करके भी आहिस्ते-आहिस्ते गिर पड़ते हैं। वण्डरफुल माया है ना। माया झट नाक से पकड़ लेती है इसलिए बाप कहते हैं निरन्तर याद करो। समझो शिवबाबा समझाते हैं। इनसे मम्मा तीखी है। बाबा निराकार, निरहंकारी है। तुम बच्चों को भी समझना है, हम निराकारी आत्मा हैं, निरहंकारी बनना है तब ही वर्सा पायेंगे। देह-अभिमान नहीं आना चाहिए। बहुत मीठा बनना है। वहाँ माया होती नहीं। तो क्यों न बाप से वर्सा ले लेवें। बाबा का राइट हैण्ड बन जायें। वह कौन बनते हैं? जो सेन्टर स्थापन करते हैं। कमाल करते हैं, कितनों का कल्याण करते हैं। कोई सेन्टर्स स्थापन कर फिर चले जाते हैं। उनका भी फल मिल जाता है। एक तरफ जमा, दूसरे तरफ ना हो जाती है। यह तो बाप जानते हैं। ब्रह्मा भी जान सकते हैं। एक ही यह मुरब्बी बच्चा है। तुम सब हो पोत्रे पोत्रियाँ। तुम जानते हो मम्मा नम्बरवन जाती है। बाबा सेकेण्ड नम्बर में आते हैं। तो माताओं का रिगार्ड बहुत करना पड़े। बाबा कहते हैं वन्दे मातरम्। तो बच्चों को भी वन्दे मातरम् करना पड़े। माता बिगर उद्धार हो न सके। वास्तव में तो हैं सब सीतायें। सब सजनियाँ हैं – एक साजन की अथवा सब बच्चे हैं एक बाप के। बाप खुद कहते हैं वन्दे मातरम्। जैसे कर्म मैं करूंगा, मुझे देख बच्चे भी ऐसा करेंगे। तो माताओं की सम्भाल करनी है। इन पर अत्याचार बहुत होते हैं। कोई विघ्न डालते हैं तो भी बिचारी मातायें बाँधेली हो जाती हैं। पाप का घड़ा ऐसे भरता है, असुर मारते हैं तो पापात्मा बन पड़ते हैं। है तो सब ड्रामा अनुसार, इसको कोई मिटा नहीं सकते। कल्प पहले मुआफिक हरेक अपना वर्सा लेने वाले हैं। साक्षात्कार होता है – कौन अच्छे-अच्छे मददगार होते हैं। शिवबाबा कहते हैं मैं तो दाता हूँ, कुछ लेता नहीं हूँ। अगर यह ख्याल आता है कि हम देते हैं, अहंकार आया तो यह मरे। शिवबाबा तो कहते हैं तुम ठिक्कर-भित्तर देकर रिटर्न में कितना लेते हो! बाबा हमेशा दाता है। शिवबाबा को मैं देता हूँ – यह बुद्धि में कभी नहीं आना चाहिए। मैं एक पैसा देकर लाख लेता हूँ, 21 जन्म के लिए राज्य-भाग्य लेता हूँ। बाप है सद्गति दाता, झोली भरने वाला। गुप्त दान करना होता है, बाबा भी गुप्त है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) देही-अभिमानी बन माया पर जीत अवश्य पानी है। रात को जागकर भी मोस्ट बिलवेड बाप को याद करना है।

2) बाप समान निराकारी, निरहंकारी बनना है। शिवबाबा को देते हैं – यह तो संकल्प में भी नहीं लाना है।

वरदान:- अलौकिक रीति की लेन – देन द्वारा सदा विशेषता सम्पन्न बनने वाले फ्राकदिल भव
जैसे किसी मेले में जाते हो तो पैसा देते और कोई चीज़ लेते हो। लेने से पहले देना होता है तो इस रूहानी मेले में भी बाप से अथवा एक दो से कुछ न कुछ लेते हो अर्थात् स्वयं में धारण करते हो। जब कोई गुण अथवा विशेषता धारण करेंगे तो साधारणता स्वत: खत्म हो जायेगी। गुण को धारण करने से कमजोरी स्वत: समाप्त हो जायेगी। तो यही देना हो जाता है। हर सेकण्ड ऐसी लेन-देन करने में फ्राकदिल बनो तो विशेषताओं से सम्पन्न बन जायेंगे।
स्लोगन:- अपनी विशेषताओं का प्रयोग करो तो हर कदम में प्रगति का अनुभव होगा।
Font Resize