25 july ki murli

TODAY MURLI 25 JULY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 25 July 2020

25/07/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, renounce body consciousness and become soul conscious. Only those who are soul conscious are called part of God’s family.
Question: How is the spiritual gathering of you children different from all other spiritual gatherings?
Answer: This is the only spiritual gathering where you listen to the knowledge of souls and the Supreme Soul. You study here to attain your aim and objective, which is in front of you. In other spiritual gathering, neither do they study nor do they have any aim or objective.

Om shanti. The spiritual Father explains to you spiritual children. You spiritual children are listening to Him. The Father first explains: Whenever you sit here, do so while considering yourselves to be souls. Do not consider yourselves to be bodies. Those who are body conscious are said to belong to the devil’s family. Those who are soul conscious are said to belong to God’s family. God doesn’t have a body. He is always soul conscious. He is the Supreme Soul, the Father of all souls. “Supreme Soul” means the Highest on High. When people speak of God, the Highest on High, it enters their intellects that His form is an incorporeal oval image. The incorporeal, oval image is also worshipped. He is the Supreme Soul. He is the highest of all souls. He too is a soul, but He is the highest soul of all. He doesn’t enter the cycle of birth and death. All others take rebirth and they are all part of creation. Only the one Father is the Creator. Brahma, Vishnu and Shankar are also part of creation. The whole human world is the creation. The Creator is called the Father. A man is also called a creator. He adopts a wife and creates a creation with her. He then sustains their creation, but He doesn’t destroy it. All the founders of religionscreate a religion and then also sustain it. None of them destroys it. The unlimited Father is called the Supreme Soul. Just as the form of souls is a point, so the form of the Supreme Father, the Supreme Soul, is also a point. However, the large oval image that they make on the path of devotion is just so that they can worship Him. Otherwise, how could a point be worshipped? In Bharat, when they create a sacrificial fire, they create a Shivalingam and saligrams of clay and then worship them. That is called the sacrificial fire of Rudra. In fact, its real name is Rajaswa Ashwamegh Avinashi Rudra Gita Gyan Yagya (The sacrificial fire of the imperishable knowledge of the Gita by Rudra in which the horse is sacrificed to attain self-sovereignty). This too is mentioned in the scriptures. The Father now tells you children: Consider yourselves to be souls. In no other spiritual gathering does anyone have the knowledge of souls or the Supreme Soul, nor is anyone able to give it. There is no aim or objective there. You children are now studying this study. You know that a soul enters a body. Souls are imperishable whereas bodies are perishable. A soul plays his part through his body. Souls are bodiless, are they not? It is even said, “You came bodiless and you have to return bodiless.” You adopted a body but, before you can return, you have to become bodiless. The Father sits here and explains this to you children alone. You children also know that when it was the golden age in Bharat, it used to be the kingdom of deities; there was just the one religion. The people of Bharat don’t even know this much. Those who don’t know the Father don’t know anything. The ancient rishis and munis also used to say: We neither know the Creator nor the creation. The Creator is the unlimited Father. Only He knows the beginning, the middle and the end of creation. The beginning is called the start and the middle period is the period in between. In the beginning there is the golden age which is called the day. Then, the night lasts from the middle to the end. The day lasts for the golden and silver ages. Heaven was the wonder of the world. Only Bharat was heaven where Lakshmi and Narayan used to rule. The people of Bharat do not know this. The Father is now establishing heaven. The Father says: Consider yourselves to be souls. I am a first-class soul. At this time, all human beings are body conscious. The Father makes you soul conscious. The Father also tells you what a soul is. Human beings don’t know anything at all. Although they say that a wonderful star shines in the centre of the forehead, they don’t know what it is or how it has a part recorded in it. The Father has now explained this to you. You people of Bharat have to play your parts for 84 births. Bharat is the elevated land; it is the pilgrimage place for all human beings. The Father comes here in order to grant salvation to everyone. He liberates us from Ravan’s kingdom. He becomes our Guide and takes us back home. People just say that without understanding the meaning of it. At first, there were deities in Bharat. Then they had to take rebirth. It is the people of Bharat who become deities, then warriors, merchants and shudras; they take rebirth. It takes seven days to understand this knowledge fully. Your impure intellects have to be purified. Lakshmi and Narayan used to rule in the pure world. When it was their kingdom in Bharat, there were no other religions; there was only the one kingdom. Bharat was very solvent. Their palaces were studded with diamonds and jewels. Then, when Ravan’s kingdom began, they became worshippers. They went onto the path of devotion and built temples etc. They built the temple to Somnath. There wasn’t just one temple. Here, too, there were so many diamonds and jewels in the temple to Shiva which Mahmud Guznavi took away camel-loads. There was so much there that even hundreds of thousands of camels could not have taken it all. In the golden age, there were so many palaces of gold, studded with diamonds and jewels. Mahmud Guznavi only came recently. There were so many palaces etc. even in the copper age. They were all buried by earthquakes. There was no golden island of Ravan. That symbolises what the condition of Bharat becomes in Ravan’s kingdom. It becomes 100irreligious, unrighteous, insolvent, impure and vicious. The new world is said to be viceless. Bharat used to be the Temple of Shiva (Shivalaya). It was also called the wonder of the world. There used to be very few human beings there. There are now billions of human beings. Just think about it! It is now the most auspicious confluence age for you children. It is now that the Father is giving you divine intellects and making you into the most elevated human beings. The Father gives you elevated directions in order to change you from ordinary human beings into deities. It is only of the Father’s directions that it is said, “Your ways and means are unique.” No one knows the meaning of that. The Father explains: I give you such elevated directions that you become deities. The iron age is now coming to an end. The destruction of the old world is in front of you. Human beings are in total darkness and sleeping in the sleep of Kumbhakarna. It is said: It is written in the scriptures that the iron age is still in its infancy because there are still 40,000 years to go. Because they believe in 8.4 million species, they have lengthened the duration of the cycle. In fact, it is only 5000 years. The Father explains: You take 84 births, not 8.4 million. The unlimited Father knows all of those scriptures etc. This is why He says that all of them belong to the path of devotion, which lasts for half the cycle, and that no one can meet Him through those. Consider this: If the duration of the cycle were hundreds of thousands of years, the population would then be very large, since the population of the Christians has become so large in only 2000 years. The original religion of Bharat is the deity religion. That should continue but, because they have forgotten their original eternal deity religion, they say that their religion is Hindu. There is no such religion as Hindu. Bharat used to be so elevated! When there was the original eternal deity religion, it was the land of Vishnu. It is now the land of Ravan. Look what those deities have now become after taking 84 births. The people of Bharat consider the deities to be viceless and themselves to be vicious. Therefore, they worship the deities. In the golden age, Bharat was viceless. It was the new world and it was called New Bharat. This is old Bharat. What was New Bharat like and what is old Bharat like? In the new world Bharat was new and now, in the old world, Bharat is old. What has its state become? Bharat used to be heaven and it has now become hell. Bharat used to be the most solvent. Bharat is now the most insolvent; it is begging from everyone. It is even begging from its own people. This is something to be understood. When body-conscious human beings of today have a little money, they think that they are sitting in heaven. They know nothing at all about heaven, the land of happiness, because they have stone intellects. Now, because they are impure, you have to make them sit in a bhatthi for seven days to make their intellects divine. Impure ones are not allowed to sit here. Only pure ones can stay here. Impure ones cannot be allowed to come here. You are now sitting at the most auspicious confluence age. You know that Baba is making you the most elevated of all. This is the story of the true Narayan. The true Father is teaching you Raj Yoga in order to make you into a true Narayan from an ordinary human. Only the one Father has this knowledge and He is called the Ocean of Knowledge. The praise “The Ocean of Peace and the Ocean of Purity” belongs to Him; it cannot be the praise of anyone else. The praise of deities is distinct from the praise of the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva. He is the Father. Krishna isn’t called the Father. Now, who is God? Even now, the people of Bharat don’t know this. They say: God Krishna speaks. However, Krishna takes the full 84 births. Those of the sun dynasty then become those of the moon dynasty and then those of the merchant dynasty etc. Human beings don’t understand the meaning of “hum so”. They say, “I, the soul, am the Supreme Soul”. How wrong they are! You must now explain to them how the stage of Bharat ascends and descends. This is knowledge and all of that is devotion. In the golden age, everyone was pure. It was the kingdom of the king and queen. There were no advisers there because the king and queen were masters themselves. They had received their inheritance from the Father; they had wisdom. Lakshmi and Narayan didn’t need to take advice from anyone. There were no advisers there. No other land is ever as pure as Bharat was; it was such a great and pure land. Its very name was heaven whereas it is now hell! Only the Father can change this hell into heaven. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Follow the elevated directions of the one Father and become deities from ordinary humans. At this beautiful auspicious confluence age, make your intellects divine and become the most elevated ones.
  2. Sit in a bhatthi for seven days and purify your impure intellect. Listen to the true story of true Narayan from the true Father and become Narayan from a human being.
Blessing: May you give the Father the return of love with your angelic stage and thereby become an embodiment of solutions.
To remain stable in the angelic stage is to give the Father the return of love. Those who give such a return become embodiments of solutions. By becoming an embodiment of solutions, your own problems and the problems of others automatically finish. So, it is now the time to do such service, it is now the time to give as well as take. So, now become one who uplifts everyone, like the Father. Listen to their call and reach those souls in your angelic form and remove the tiredness of souls who are tired from their problems.
Slogan: Remain carefree of waste, not of the codes of conduct.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 25 JULY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 25 July 2020

Murli Pdf for Print : – 

25-07-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – देह-अभिमान छोड़ देही-अभिमानी बनो, देही-अभिमानियों को ही ईश्वरीय सम्प्रदाय कहा जाता है”
प्रश्नः- तुम बच्चे अभी जो सतसंग करते हो यह दूसरे सतसंगों से निराला है, कैसे?
उत्तर:- यही एक सतसंग है जिसमें तुम आत्मा और परमात्मा का ज्ञान सुनते हो। यहाँ पढ़ाई होती है। एम ऑब्जेक्ट भी सामने है। दूसरे सतसंगों में न पढ़ाई होती, न कोई एम आब्जेक्ट है।

ओम् शान्ति। रूहानी बच्चों प्रति रूहानी बाप समझा रहे हैं। रूहानी बच्चे सुन रहे हैं। पहले-पहले बाप सम-झाते हैं जब भी बैठो तो अपने को आत्मा समझकर बैठो। देह न समझो। देह-अभिमानी को आसुरी सम्प्रदाय कहा जाता है। देही-अभिमानियों को ईश्वरीय सम्प्रदाय कहा जाता है। ईश्वर को देह है नहीं। वह सदैव आत्म-अभिमानी है। वह है सुप्रीम आत्मा, सभी आत्माओं का बाप। परम आत्मा अर्थात् ऊंचे ते ऊंचा। मनुष्य जब ऊंचे ते ऊंचा भगवान कहते हैं तो बुद्धि में आता है वह निराकार लिंग रूप है। निराकार लिंग की पूजा भी होती है। वह है परमात्मा यानी सभी आत्माओं से ऊंच। है वह भी आत्मा परन्तु ऊंच आत्मा। वह जन्म-मरण में नहीं आते हैं। बाकी सब पुनर्जन्म लेते हैं और सभी हैं रचना। रचता तो एक ही बाप है। ब्रह्मा-विष्णु-शंकर भी रचना है। मनुष्य सृष्टि भी सारी है रचना। रचता को बाप कहा जाता है। पुरूष को भी रचता कहा जाता है। स्त्री को एडाप्ट करते हैं फिर उनसे क्रियेट करते हैं, पालना करते हैं। बस विनाश नहीं करते हैं और जो धर्म स्थापक होते हैं वह भी क्रियेट करते हैं, फिर उनकी पालना करते हैं। विनाश कोई भी नहीं करते। बेहद का बाप जिसको परम आत्मा कहा जाता है, जैसे आत्मा का रूप बिन्दी है वैसे ही परमपिता परमात्मा का भी रूप बिन्दी है। बाकी इतना बड़ा लिंग जो बनाते हैं वह सब भक्ति मार्ग में पूजा के कारण। बिन्दी की पूजा कैसे हो सकती। भारत में रूद्र यज्ञ रचते हैं तो मिट्टी का शिवलिंग और सालिग्राम बनाकर फिर उनकी पूजा करते हैं। उनको रूद्र यज्ञ कहा जाता है। वास्तव में असली नाम है राजस्व अश्वमेध अविनाशी रूद्र गीता ज्ञान यज्ञ। जो शास्त्रों में भी लिखा हुआ है। अब बाप बच्चों को कहते हैं अपने को आत्मा समझो। और जो भी सतसंग हैं उसमें आत्मा या परमात्मा का ज्ञान न कोई में है, न दे सकते हैं। वहाँ तो कोई एम आबजेक्ट होती नहीं। तुम बच्चे तो अभी पढ़ाई पढ़ रहे हो। तुम जानते हो आत्मा शरीर में प्रवेश करती है। आत्मा अविनाशी है, शरीर विनाशी है। शरीर द्वारा पार्ट बजाती है। आत्मा तो अशरीरी है ना। कहते भी हैं नंगे आये हैं, नंगे जाना है। शरीर धारण किया फिर शरीर छोड़कर नंगे जाना है। यह बाप तुम बच्चों को ही बैठ समझाते हैं। यह भी बच्चे जानते हैं भारत में सतयुग था तो देवी-देवताओं का राज्य था, एक ही धर्म था। यह भी भारतवासी नहीं जानते हैं। बाप को जिसने नहीं जाना उसने कुछ नहीं जाना। प्राचीन ऋषि-मुनि भी कहते थे – हम रचता और रचना को नहीं जानते हैं। रचयिता है बेहद का बाप, वही रचना के आदि-मध्य-अन्त को जानते हैं। आदि कहा जाता है शुरू को, मध्य बीच को। आदि है सतयुग, जिसको दिन कहा जाता है, फिर मध्य से अन्त तक है रात। दिन है सतयुग-त्रेता, स्वर्ग है वन्डर ऑफ वर्ल्ड। भारत ही स्वर्ग था, जिसमें लक्ष्मी-नारायण राज्य करते थे, यह भारतवासी नहीं जानते हैं। बाप अभी स्वर्ग की स्थापना कर रहे हैं।

बाप कहते हैं तुम अपने को आत्मा समझो। हम फर्स्टक्लास आत्मा हैं। इस समय मनुष्यमात्र सब देह-अभिमानी हैं। बाप आत्म-अभिमानी बनाते हैं। आत्मा क्या चीज़ है, यह भी बाप बतलाते हैं। मनुष्य कुछ भी नहीं जानते। भल कहते भी हैं भृकुटी के बीच चमकता है अजब सितारा परन्तु वह क्या है, कैसे उसमें पार्ट भरा हुआ है, वह कुछ भी नहीं जानते। अभी तुमको बाप ने समझाया है, तुम भारतवासियों को 84 जन्मों का पार्ट बजाना होता है। भारत ही ऊंच खण्ड है, जो भी मनुष्य मात्र हैं, उनका यह तीर्थ है, सर्व की सद्गति करने बाप यहाँ आते हैं। रावण राज्य से लिबरेट कर गाइड बन ले जाते हैं। मनुष्य तो ऐसे ही कह देते, अर्थ कुछ भी नहीं जानते। भारत में पहले देवी-देवता थे। उन्हों को ही फिर पुनर्जन्म लेना पड़ता है। भारतवासी ही सो देवता फिर क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र बनते हैं। पुनर्जन्म लेते हैं ना। इस नॉलेज को पूरी रीति समझने में 7 रोज़ लगते हैं। पतित बुद्धि को पावन बनाना है। यह लक्ष्मी-नारायण पावन दुनिया में राज्य करते थे ना। उन्हों का ही राज्य भारत में था तो और कोई धर्म नहीं था। एक ही राज्य था। भारत कितना सालवेन्ट था। हीरे-जवाहरों के महल थे फिर रावण राज्य में पुजारी बने हैं। फिर भक्ति मार्ग में यह मन्दिर आदि बनाये हैं। सोमनाथ का मन्दिर था ना। एक मन्दिर तो नहीं होगा। यहाँ भी शिव के मन्दिर में इतने तो हीरे जवाहर थे जो मुहम्मद गजनवी ऊंट भरकर ले गये। इतने माल थे, ऊंट तो क्या कोई लाखों ऊंट ले आये तो भी भर न सकें। सतयुग में सोने, हीरे-जवाहरों के तो अनेक महल थे। मुहम्मद गजनवी तो अभी आया है। द्वापर में भी कितने महल आदि होते हैं। वह फिर अर्थक्वेक में अन्दर चले जाते हैं। रावण की कोई सोने की लंका होती नहीं है। रावण राज्य में तो भारत का यह हाल हो जाता है। 100 परसेन्ट इरिलीजस, अनराइटियस, इनसालवेन्ट, पतित विशश, नई दुनिया को कहा जाता है वाइसलेस। भारत शिवालय था, जिसको वन्डर ऑफ वर्ल्ड कहा जाता है। बहुत थोड़े मनुष्य थे। अभी तो करोड़ों मनुष्य हैं। विचार करना चाहिए ना। अभी तुम बच्चों के लिए यह पुरूषोत्तम संगमयुग है, जबकि बाप तुमको पुरूषोत्तम, पारसबुद्धि बना रहे हैं। बाप मनुष्य से देवता बनने की तुम्हें सुमत देते हैं। बाप की मत के लिए ही गाया जाता है तुम्हरी गत-मत न्यारी….. इसका भी अर्थ कोई नहीं जानते। बाप समझाते हैं मैं ऐसी श्रेष्ठ मत देता हूँ जो तुम देवता बन जाते हो। अब कलियुग पूरा होता है, पुरानी दुनिया का विनाश सामने खड़ा है। मनुष्य बिल्कुल ही घोर अन्धियारे में कुम्भकरण की नींद में सोये पड़े हैं क्योंकि कहते हैं शास्त्रों में लिखा है – कलियुग तो अभी बच्चा है, 40 हज़ार वर्ष पड़े हैं। 84 लाख योनियाँ समझने के कारण कल्प की आयु भी लम्बी-चौड़ी कर दी है। वास्तव में है 5 हज़ार वर्ष। बाप समझाते हैं तुम 84 जन्म लेते हो, न कि 84 लाख। बेहद का बाप तो इन सभी शास्त्रों आदि को जानते हैं तब तो कहते हैं यह सब हैं भक्ति मार्ग के, जो आधाकल्प चलते हैं, इससे कोई मुझे नहीं मिलते। यह भी विचार करने की बात है कि अगर कल्प की आयु लाखों वर्ष दें फिर तो संख्या बहुत होनी चाहिए। जबकि क्रिश्चियन की संख्या 2 हज़ार वर्ष में इतनी हुई है। भारत का असुल धर्म देवी-देवता धर्म है, वह चला आना चाहिए परन्तु आदि सनातन देवी-देवता धर्म को भूल जाने कारण कह देते हमारा हिन्दू धर्म है। हिन्दू धर्म तो होता ही नहीं। भारत कितना ऊंच था। आदि सनातन देवी-देवता धर्म था तो विष्णुपुरी थी। अब है रावणपुरी। वही देवी-देवतायें 84 जन्म के बाद क्या बन गये हैं। देवताओं को वाइसलेस समझ, अपने को विशश समझ उन्हों की पूजा करते हैं। सतयुग में भारत वाइसलेस था, नई दुनिया थी, जिसको नया भारत कहते हैं। यह है पुराना भारत। नया भारत क्या था, पुराना भारत क्या है, नई दुनिया में भारत ही नया था, अब पुरानी दुनिया में भारत भी पुराना है। क्या गति हो गई है। भारत ही स्वर्ग था, अभी नर्क है। भारत मोस्ट सालवेन्ट था, भारत ही मोस्ट इनसालवेन्ट है, सबसे भीख मांग रहे हैं। प्रजा से भी भीख मांगते हैं। यह तो समझ की बात है ना। आज के देह-अभिमानी मनुष्यों को थोड़ा पैसा मिला तो समझते हैं हम तो स्वर्ग में बैठे हैं। सुखधाम (स्वर्ग) को बिल्कुल जानते नहीं क्योंकि पत्थरबुद्धि हैं। अब उन्हें पारसबुद्धि बनाने के लिए 7 रोज़ की भट्ठी में बिठाओ क्योंकि पतित हैं ना। पतित को यहाँ तो बिठा नहीं सकते। यहाँ पावन ही रह सकते हैं। पतित को एलाउ नहीं कर सकते।

तुम अभी पुरूषोत्तम संगमयुग पर बैठे हो। जानते हो बाबा हमको ऐसा पुरूषोत्तम बनाते हैं। यह सच्ची सत्य नारायण की कथा है। सत्य बाप तुमको नर से नारायण बनने का राजयोग सिखला रहे हैं। ज्ञान सिर्फ एक बाप के पास है, जिसको ज्ञान का सागर कहा जाता है। शान्ति का सागर, पवित्रता का सागर, यह उस एक की ही महिमा है। दूसरे कोई की महिमा हो नहीं सकती। देवताओं की महिमा अलग है, परमपिता परमात्मा शिव की महिमा अलग है। वह है बाप, कृष्ण को बाप नहीं कहेंगे। अब भगवान कौन ठहरा? अभी भी भारतवासी मनुष्यों को पता नहीं है। कृष्ण भगवानुवाच कह देते हैं। वह तो पूरे 84 जन्म लेते हैं। सूर्यवंशी सो चन्द्रवंशी सो वैश्य वंशी….., मनुष्य हम सो का अर्थ भी समझते नहीं। हम आत्मा सो परमात्मा कह देते हैं, कितना रांग है। अभी तुम समझाते हो कि भारत की चढ़ती कला और उतरती कला कैसे होती है। यह है ज्ञान, वह सब है भक्ति। सतयुग में सब पावन थे, राजा-रानी का राज्य चलता था। वहाँ वजीर भी नहीं होता है क्योंकि राजा-रानी खुद ही मालिक हैं। बाप से वर्सा लिया हुआ है। उनमें अक्ल है, लक्ष्मी-नारायण को कोई के राय लेने की दरकार नहीं है। वहाँ वजीर होते नहीं। भारत जैसा पवित्र देश कोई था नहीं। महान् पवित्र देश था। नाम ही था स्वर्ग, अभी है नर्क। नर्क से फिर स्वर्ग बाप ही बनायेगा। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) एक बाप की सुमत पर चलकर मनुष्य से देवता बनना है। इस सुहावने संगमयुग पर स्वयं को पुरूषोत्तम पारसबुद्धि बनाना है।

2) 7 रोज़ की भट्ठी में बैठ पतित बुद्धि को पावन बुद्धि बनाना है। सत्य बाप से सत्य नारायण की सच्ची कथा सुन नर से नारायण बनना है।

वरदान:- फरिश्तेपन की स्थिति द्वारा बाप के स्नेह का रिटर्न देने वाले समाधान स्वरूप भव
फरिश्ते पन की स्थिति में स्थित होना – यही बाप के स्नेह का रिटर्न है, ऐसा रिटर्न देने वाले समाधान स्वरूप बन जाते हैं। समाधान स्वरूप बनने से स्वयं की वा अन्य आत्माओं की समस्यायें स्वत: समाप्त हो जाती हैं। तो अब ऐसी सेवा करने का समय है, लेने के साथ देने का समय है। इसलिए अब बाप समान उपकारी बन, पुकार सुनकर अपने फरिश्ते रूप द्वारा उन आत्माओं के पास पहुंच जाओ और समस्याओं से थकी हुई आत्माओं की थकावट उतारो।
स्लोगन:- व्यर्थ से बेपरवाह बनो, मर्यादाओं में नहीं।

TODAY MURLI 25 JULY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 25 July 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 24 July 2019:- Click Here

25/07/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, learn to have mercy for those who defame you, just as the Father does. Also make friends with those who defame you.
Question: What vision of the Father is firm? What vision do you children have to make firm?
Answer: The Father’s vision of all souls being His children is firm. This is why He continues to say: “Child, child.” You can never say: “Child, child” to anyone. You have to make your vision firm that that soul is your brother. See the brother, speak to the brother and there will be spiritual love through that; all criminal thoughts will end. Even those who defame you will become your friends.

Om shanti. The spiritual Father sits here and explains to you. What is the name of the spiritual Father? You would definitely say, “Shiva”. He is the spiritual Father of everyone. He alone is called God. You children, too, understand this, numberwise, according to your efforts. When they speak of Akaashvani (sound from the ether), whose sound do they say comes from the ether? That of Shiv Baba. This mouth is called ether. All human beings make sound emerge from the element of ether (mouth). All souls have forgotten their Father. They continue to sing all types of praise, but they don’t know anything. It is here that they praise Him. No one even remembers the Father at the time of happiness because all their desires have been fulfilled. Here, they have many desires. When there isn’t any rain, they create sacrificial fires. It isn’t that by them creating a sacrificial fire, there will always be rain; no. Sometimes, there may be faminesomewhere, and, even if they create a sacrificial fire, nothing happens through that. This is the drama. All the calamities that are to come will continue to come. So many human beings and so many animals etc. continue to die. People are so unhappy. Is there a sacrificial fire for stopping rain? When there is torrential rainfall, they create a sacrificial fire. Only you now understand all of these things. No one else knows. The Father, Himself, sits here and explains to you. People praise the Father and they also defame Him. It is a wonder! When did they begin to defame Baba? When the kingdom of Ravan began. The main defamation is that they have called God omnipresent. It is because of this that they have fallen. It is remembered: Those who defame you are your friends. Who has defamed God the most? You children, and it is you children who now become friends. In fact, the whole world defames Him, but you are number onein this and then you become friends. The closest friends are the children. The unlimited Father says: You children have defamed Me, and it is you children who also insult Me. Look how the drama has been created! These things are knowledge which you have to churn. “To churn the ocean of knowledge” has so many meanings. No one can understand them. The Father says: You children study knowledge and then uplift others. It is also remembered: When there is extreme irreligiousness, I come. This refers to Bharat. Look what the play is like. People celebrate the birthday of Shiva and the night of Shiva. In fact, there is just the one Incarnation. People have said that the Incarnation is also in pebbles and stones. The Father complains about this. Those who study the Gita and read those versions also say that they don’t know anything. Only you are the loveliest children of all. When Baba speaks to anyone, He continually says: Child, child. The Father’s vision of all being His children has become firm: All souls are My children. There isn’t a single one of you who would say, “Child, child”. You know what status each one has and what each one is. All are souls. This drama is predestined and this is why there is no happiness or sorrow. All are My children. Someone would have adopted the body of a lower caste and someone of such and such a caste. Baba has developed the habit of saying, “Child, child!” In Baba’s vision all are souls. In that too, He loves the poor ones a lot because, according to the drama, they are the ones who have caused the most defamation and they have now come to Me. It is just Lakshmi and Narayan who are never defamed. People have defamed Krishna a lot too. It is a wonder. When Krishna became older, they didn’t defame him. This knowledge is so interesting! No one can understand these deep things. A golden vessel is needed for this. That can only be created by having the pilgrimage of remembrance. Even while sitting here, some of you don’t have accurate remembrance; they don’t understand that they are tiny souls. It is with your intellects that you have to remember Baba. It doesn’t enter your intellects that such a tiny soul is our Father and also our Teacher. It becomes impossible for this to enter your intellects. You continue to say, “Baba, Baba!” You also remember Him at a time of sorrow. God speaks: Everyone remembers Me at times of sorrow. No one remembers Me in happiness. There is no need to remember Me at that time. Here, there is so much sorrow and so many calamities etc. that they remember Him and say: O God, have mercy! Give me blessings! Even now, when you have become children you write: Give me blessings! Give me power! Have mercy! Baba writes back: Claim power for yourself with the power of yoga! Have mercy and blessings for yourself! Give the tilak of sovereignty to yourself! I show you the way to do that. The Teacher shows you the way to study. It is the students duty to study and follow directions. A teacher is not a guru who would give you mercy and blessings. Those who are good children would come running. Each one is independent and can run as much as he or she wants. The pilgrimage of remembrance is the race. Each soul is independent. Baba also freed you from the relationship of brother and sister: consider yourselves to be brothers. In spite of that, the eyes do not stop being criminal; they continue to do their work. At this time, all parts of human bodies are criminal. If anyone kicks someone or pushes someone, those are criminal parts. Every part of bodies is criminal. There, no part will be criminal. Here, every part performs criminal acts. Which is the most criminal part of all? The eyes. When the desire for lust is not finished, they begin to use their hands. First of all are the eyes. This is why there is the story of Surdas (He plucked out his own eyes). Shiv Baba has not studied any scriptures. This chariot has studied them. Shiv Baba is called the Ocean of Knowledge. You understand that Shiv Baba does not pick up any scriptures. I am knowledge-full, the Seed. This is the world tree and its Creator is the Father, the Seed. Baba explains: My place of residence is the incorporeal world. At this time, I am present in this body. No one else can say: I am the Seed of this human world tree. I am the Supreme Father, the Supreme Soul. No one else can say this. If someone were to tell a sensible person that God is omnipresent, he would instantly ask: Are you God? Are you Allah? This cannot be. However, no one is sensible at this time. They don’t know Allah, and so they say: I am Allah. In English, they say: Omnipresent. If they were to understand the meaning of this, they would never say it. You children know that Shiv Baba’s jayanti (birth) means the jayanti of the new world. Purity, peace and happiness are all included in that. Shiv Jayanti is Krishna Jayanti, which is also Dashera Jayanti. Shiv Jayanti is also Deepmala Jayanti. Shiv Jayanti is also the birth of heaven. All the births come together. The Father sits here and explains all of these new things. Shiv Jayanti means the birth of the temple of Shiva and death of the brothel. The Father explains all new things to you. Shiv Jayanti means the birth of the new world. People want there to be peace in the world. No matter how well you explain to them, they don’t awaken; they are sleeping in the darkness of ignorance. They continue to perform devotion and come down the ladder. The Father says: I come and grant salvation to everyone. The Father explains the secrets of heaven and hell to you children. You should write to the newspaper journalists who defame you: Those who defame us are our friends. We will also definitely grant you salvation – insult us as much as you want. People defame God and so what does it matter if they defame us? We will definitely grant you salvation. If you don’t want it, we will catch hold of you by the nose and take you with us. There is nothing to be afraid of. Whatever you do now, you also did in the previous cycle. We BKs grant salvation to everyone. You should explain to them very well. You children forget that innocent women were assaulted even in the previous cycle. The Father says: All the unlimited children defame Me. It is the children who are My friends who are loved the most. Children are flowers. Parents kiss their children. The father places them on his head and serves them. Baba also serves you children. You have now received this knowledge which you will take with you. Those who don’t take it; that is in their parts in the drama. They will play those parts. They settle their karmic accounts and go back home. They cannot see heaven. Not everyone will see heaven. This drama is predestined. People commit a lot of sin and will come later. Those who are tamopradhan will come much later. The significance of this has to be understood very well. There are bad omens over even very good maharathi children, and so they quickly get angry and then they don’t write any letters. Baba also says: Stop sending them the murli! What is the benefit of giving the Father’s treasures to such children? Then, if someone’s eyes open, he says: I made a mistake. Some are not bothered about this at all. One shouldn’t be so careless. There are many who don’t even remember the Father. They don’t make anyone the same as themselves. Otherwise, they should write to Baba: Baba, I remember You at every moment. Some are such that they write everyone’s name: Give my remembrance to so-and-so. That is not real remembrance. Falsehood cannot continue. Their consciences will continue to bite. Baba explains very good points to you children. Day by day, Baba continues to explain very deep things to you. Mountains of sorrow are to fall. There will be no mention of sorrow in the golden age. It is now the kingdom of Ravan. The King of Mysore has an effigy of Ravan made and celebrates Dashera a great deal. They call Rama God, but Rama’s Sita was abducted. If he is the Almighty Authority, how could anyone steal anyone from him? All of that is blind faith! There is the rubbish of the five vices in everyone at this time. To say that God is omnipresent is a great lie. This is why the Father says: Whenever there is extreme irreligiousness, I come. I come and establish the land of truth and the true religion. The golden age is called the land of truth and the iron age is called the land of falsehood. The Father is now making the land of falsehood into the land of truth. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to understand this deep and interesting knowledge, make your intellect into a golden vessel with the pilgrimage of remembrance. Run the race of remembrance.
  2. Follow the Father’s directions, study with attention, have mercy and blessings for yourself. Give yourself the tilak of self-sovereignty. Consider anyone who defames you to be your friend and also grant him salvation.
Blessing: May you be like Father Brahma and do everything while keeping a balance of being royal and being simple.
Father Brahma remained ordinary; neither very elevated nor very low. From the beginning until now the discipline of Brahmins has been not to be very simple or very royal, but to be of a medium level. There are now many facilities and there are also those who give facilities. Nevertheless, when you carry out a task, do it at a medium level. Let no one say that you have the luxury of a kingdom here. To the extent that you remain simple, so too, remain royal: let there be a balance of the two.
Slogan: Instead of looking at others, look at the self and remember: Whatever actions I perform, those who see me will do the same.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 25 JULY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 25 July 2019

To Read Murli 24 July 2019 :- Click Here
25-07-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाप समान अपकारियों पर भी उपकार करना सीखो, निंदक को भी अपना मित्र बनाओˮ
प्रश्नः- बाप की कौन-सी दृष्टि पक्की है? तुम बच्चों को कौन-सी पक्की करनी है?
उत्तर:- बाप की दृष्टि पक्की है कि जो भी आत्मायें हैं सब मेरे बच्चे हैं इसलिए बच्चे-बच्चे कहते रहते हैं। तुम कभी भी किसी को बच्चे-बच्चे नहीं कह सकते हो। तुम्हें यह दृष्टि पक्की करनी है कि यह आत्मा हमारा भाई है। भाई को देखो, भाई से बात करो, इससे रूहानी प्यार रहेगा। क्रिमिनल ख्यालात खत्म हो जायेंगे। निंदा करने वाला भी मित्र बन जायेगा।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप बैठ समझाते हैं। रूहानी बाप का नाम क्या है? जरूर कहेंगे शिव। वह सबका रूहानी बाप है, उनको ही भगवान् कहा जाता है। तुम बच्चों में भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार समझते हैं। यह जो आकाशवाणी कहते हैं, अब आकाशवाणी किसकी निकलती है? शिवबाबा की। इस मुख को आकाश तत्व कहा जाता है। आकाश के तत्व से वाणी तो सब मनुष्यों की निकलती है। जो भी सब आत्मायें हैं, अपने बाप को भूल गई हैं। अनेक प्रकार के गायन करते रहते हैं। जानते कुछ भी नहीं। गायन भी यहाँ करते हैं। सुख में तो कोई भी बाप को याद नहीं करते। सभी कामनायें वहाँ पूरी हो जाती है। यहाँ तो कामनायें बहुत रहती हैं। बरसात नहीं होती तो यज्ञ रचते हैं। ऐसे नहीं कि सदैव यज्ञ करने से बरसात पड़ती है। नहीं, कहाँ फैमन पड़ता है भल यज्ञ करते हैं, परन्तु यज्ञ करने से कुछ होता नहीं है। यह तो ड्रामा है। आफतें जो आनी हैं वह तो आती ही रहती हैं। कितने ढेर मनुष्य मरते हैं, कितने जानवर आदि मरते रहते हैं। मनुष्य कितने दु:खी होते हैं। क्या बरसात को बंद करने के लिए भी यज्ञ है? जब एकदम मूसलधार बरसात होगी तो यज्ञ करेंगे? इन सब बातों को अभी तुम समझते हो और क्या जानें।

बाप खुद बैठ समझाते हैं, मनुष्य बाप की महिमा भी करते हैं और गाली भी देते हैं। वन्डर है, बाबा की ग्लानि कब से शुरू हुई? जब से रावण राज्य शुरू हुआ है। मुख्य ग्लानि की है जो ईश्वर को सर्वव्यापी कहा है, इसी से ही गिर पड़े हैं। गायन है निंदा हमारी जो करे मित्र हमारा सो। अब सबसे जास्ती ग्लानि किसने की है? तुम बच्चों ने। अब फिर मित्र भी तुम बनते हो। यूँ तो ग्लानि सारी दुनिया करती है। उनमें भी नम्बरवन तुम हो फिर तुम ही मित्र बनते हो। सबसे नज़दीक वाले मित्र हैं बच्चे। बेहद का बाप कहते हैं हमारी निंदा तुम बच्चों ने की है। अपकारी भी तुम बच्चे बनते हो। ड्रामा कैसा बना हुआ है। यह है विचार सागर मंथन करने की बातें। विचार सागर मंथन का कितना अर्थ निकलता है। कोई समझ न सके। बाप कहते हैं कि तुम बच्चे पढ़कर उपकार करते हो। गायन भी है यदा-यदाहि…. भारत की बात है। खेल देखो कैसा है! शिव जयन्ती अथवा शिव रात्रि भी मनाते हैं। वास्तव में अवतार है एक। अवतार को भी ठिक्कर-भित्तर में कह दिया है। बाप उल्हना देते हैं। गीता पाठी श्लोक पढ़ते हैं परन्तु कहते हैं हमको पता नहीं।

तुम ही प्यारे ते प्यारे बच्चे हो। कोई से भी बात करेंगे तो बच्चे-बच्चे ही कहते रहेंगे। बाप की तो वह दृष्टि पक्की हो गई है। सब आत्मायें हमारे बच्चे हैं। तुम्हारे में से एक भी नहीं होगा जिसके मुख से बच्चा अक्षर निकले। यह तो जानते हैं कोई किस मर्तबे वाला है, क्या है। सब आत्मायें हैं। यह भी ड्रामा बना हुआ है, इसलिए कुछ भी ग़म-खुशी नहीं होती। सब हमारे बच्चे हैं। कोई ने मेहतर का शरीर धारण किया है, कोई ने फलाने का शरीर धारण किया है। बच्चे-बच्चे कहने की आदत पड़ गई है। बाबा की नज़र में सब आत्मायें हैं। उनमें भी गरीब बहुत अच्छे लगते हैं क्योंकि ड्रामा अनुसार उन्होंने बहुत ग्लानि की है। अब फिर मेरे पास आ गये हैं। सिर्फ यह लक्ष्मी-नारायण हैं जिनकी कभी ग्लानि नहीं की जाती। कृष्ण की भी बहुत ग्लानि की है। वन्डर है ना। कृष्ण ही बड़ा बना तो उसकी ग्लानि नहीं है। यह ज्ञान कितना अटपटा है। ऐसी गुह्य बातें कोई समझ थोड़ेही सकते हैं, इसमें चाहिए सोने का बर्तन। वह याद की यात्रा से ही बन सकता है। यहाँ बैठे भी यथार्थ याद थोड़ेही करते हैं। यह नहीं समझते कि हम छोटी आत्मा हैं, याद भी बुद्धि से करना है। यह बुद्धि में आता नहीं है। छोटी सी आत्मा वह हमारा बाप भी है, टीचर भी है, यह बुद्धि में आना भी असम्भव हो जाता है। बाबा-बाबा तो कहते हैं, दु:ख में सिमरण सब करते हैं। भगवानुवाच है ना – दु:ख में सब याद करते हैं, सुख में करे न कोई। दरकार ही नहीं याद करने की। यहाँ तो इतने दु:ख आफतें आदि आती हैं, याद करते हैं हे भगवान् रहम करो, कृपा करो। अब भी बच्चे बनते हैं तो भी लिखते हैं – कृपा करो, शक्ति दो, रहम करो। बाबा लिखते हैं शक्ति आपेही योगबल से लो। अपने ऊपर कृपा रहम आपेही करो। अपने को आपेही राजतिलक दो। युक्ति बताता हूँ – कैसे दे सकते हो। टीचर पढ़ने की युक्ति बताते हैं। स्टूडेन्ट का काम है पढ़ना, डायरेक्शन पर चलना। टीचर कोई गुरू थोड़ेही है जो कृपा आशीर्वाद करे। जो अच्छे बच्चे होंगे वह दौड़ेंगे। हर एक स्वतंत्र है, जितना दौड़ी लगानी है वह लगाये। याद की यात्रा ही दौड़ी है।

एक-एक आत्मा इन्डिपेन्डेन्ट है। भाई-बहन का भी नाता छुड़ा दिया। भाई-भाई समझो फिर भी क्रिमिनल आई छूटती नहीं है। वह अपना काम करती रहती है। इस समय मनुष्यों के अंग सब क्रिमिनल हैं। किसको लात मारी, घूँसा मारा तो क्रिमिनल अंग हुआ ना। अंग-अंग क्रिमिनल हैं। वहाँ कोई भी अंग क्रिमिनल नहीं होगा। यहाँ अंग-अंग से क्रिमिनल काम करते रहते हैं। सबसे जास्ती क्रिमिनल अंग कौन सा है? आंखे। विकार की आश पूरी नहीं हुई तो फिर हाथ चलाने लग पड़ते। पहले-पहले है आंखे। तब सूरदास की भी कहानी है। शिवबाबा तो कोई शास्त्र पढ़ा हुआ नहीं है। यह रथ पढ़ा हुआ है। शिवबाबा को तो ज्ञान का सागर कहा जाता है। यह तुम समझते हो कि शिवबाबा कोई पुस्तक नहीं उठाता। मैं तो नॉलेजफुल हूँ, बीजरूप हूँ। यह सृष्टि रूपी झाड़ है, उसका रचयिता है बाप, बीज। बाबा समझाते हैं मेरा निवास स्थान मूलवतन में है। अभी मैं इस शरीर में विराजमान हूँ और कोई कह न सके कि मैं इस मनुष्य सृष्टि का बीजरूप हूँ। मैं परमपिता परमात्मा हूँ, कोई कह नहीं सकेगा। सेन्सीबुल कोई अच्छा हो, उनको कोई कहे ईश्वर सर्वव्यापी है तो झट पूछेगा क्या तुम भी ईश्वर हो? क्या तुम अल्लाह-सांई हो? हो नहीं सकता। परन्तु इस समय कोई सेन्सीबुल नहीं है। अल्लाह का भी पता नहीं, खुद ही कहते हैं अल्लाह हूँ। वह भी इंगलिश में कहते है ओमनी प्रेजन्ट। अर्थ समझें तो कभी नहीं कहें। बच्चे अब जानते हैं शिवबाबा की जयन्ती सो नये विश्व की जयन्ती। उसमें पवित्रता-सुख-शान्ति सब कुछ आ जाता है। शिवजयन्ती सो कृष्ण जयन्ती, सो दशहरा जयन्ती। शिवजयन्ती सो दीपमाला जयन्ती, शिवजयन्ती सो स्वर्ग जयन्ती। सब जयन्तियां आ जाती हैं। यह सब नई बातें बाप बैठ समझाते हैं। शिव जयन्ती सो शिवालय जयन्ती, वैश्यालय मरन्ती। सब नई बातें बाप बैठ समझाते हैं। शिव जयन्ती सो नये विश्व की जयन्ती। चाहते हैं ना विश्व में शान्ति हो। तुम कितना भी अच्छी रीति समझाते हो, जगते ही नहीं। अज्ञान अंधेरे में सोये पड़े हैं ना। भक्ति करते सीढ़ी नीचे उतरते जाते हैं। बाप कहते हैं मैं आकर सबकी सद्गति करता हूँ। स्वर्ग और नर्क का राज़ तुम बच्चों को बाप समझाते है। अखबारें जो तुम्हारी ग्लानि करती हैं उनको लिख देना चाहिए – निंदा हमारी जो करे मित्र हमारा सोय। तुम्हारी भी सद्गति हम जरूर करेंगे, जितनी चाहिए उतनी गाली दो। ईश्वर की ग्लानि करते हैं, हमारी की तो क्या हुआ। तुम्हारी सद्गति हम जरूर करेंगे। नहीं चाहेंगे तो भी नाक से पकड़कर ले जायेंगे। डरने की तो बात नहीं, जो कुछ करते हैं कल्प पहले भी किया है। हम बी.के. तो सबकी सद्गति करेंगे। अच्छी तरह से समझाना चाहिए। अबलाओं पर अत्याचार तो कल्प पहले भी हुआ था, यह बच्चे भूल जाते हैं। बाप कहते हैं बेहद के बच्चे सब हमारी ग्लानि करते हैं। सबसे प्यारे मित्र बच्चे ही लगते हैं। बच्चे तो फूल होते हैं। बच्चों को माँ-बाप चुम्मन करते हैं, माथे पर चढ़ाते, उनकी सेवा करते हैं। बाबा भी तुम बच्चों की सेवा करते हैं।

अभी तुमको यह नॉलेज मिली हुई है, जो तुम साथ ले जाते हो। जो नहीं लेते उनका भी ड्रामा में पार्ट है। वही पार्ट बजायेंगे। हिसाब-किताब चुक्तू कर घर चले जाते हैं। स्वर्ग तो देख न सकें। सब थोड़ेही स्वर्ग देखेंगे। यह ड्रामा बना हुआ है। पाप खूब करते हैं, आयेंगे भी देरी से। तमोप्रधान बहुत देरी से आयेंगे। यह राज़ भी बहुत अच्छा समझने का है। अच्छे-अच्छे महारथी बच्चों पर भी ग्रहचारी बैठती है तो झट गुस्सा आ जाता है फिर चिट्ठी भी नहीं लिखते हैं। बाबा भी कहते हैं कि उनकी मुरली बंद कर दो। ऐसे को बाप का खजाना देने से फ़ायदा ही क्या। फिर कोई की आंख खुले तो कहेंगे भूल हुई। कोई तो परवाह नहीं करते। इतनी ग़फलत नहीं करनी चाहिए। ऐसे बहुत ढेर हैं, बाप को याद भी नहीं करते हैं, कोई को आप समान भी नहीं बनाते हैं। नहीं तो बाबा को लिखना चाहिए – बाबा, हम हरदम आपको याद करते हैं। कई तो फिर ऐसे हैं जो सबका नाम लिख देते हैं – फलाने को याद देना, यह याद सच्ची थोड़ेही है। झूठ चल न सके। अन्दर दिल खाती रहेगी। बच्चों को प्वाइंट तो अच्छी-अच्छी समझाते रहते हैं। दिन-प्रतिदिन बाबा गुह्य बातें समझाते रहते हैं। दु:ख के पहाड़ गिरने वाले हैं। सतयुग में दु:ख का नाम नहीं। अभी है रावण राज्य। मैसूर का राजा भी रावण आदि बनाकर दशहरा बहुत मनाते हैं। राम को भगवान् कहते हैं। राम की सीता चोरी हुई। अब वह तो सर्वशक्तिमान् ठहरा, उसकी चोरी कैसे हो सकती। यह सब है अन्धश्रधा। इस समय हर एक में 5 विकारों की गन्दगी है। फिर भगवान् को सर्वव्यापी कहना यह बहुत बड़ा झूठ है, तब तो बाप कहते हैं – यदा यदाहि…..। मैं आकर सचखण्ड, सच्चा धर्म स्थापन करता हूँ। सच-खण्ड सतयुग को, झूठ खण्ड कलियुग को कहा जाता है। अभी बाप झूठखण्ड को सचखण्ड बनाते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) इस गुह्य वा अटपटे ज्ञान को समझने के लिए बुद्धि को याद की यात्रा से सोने का बर्तन बनाना है। याद की रेस करनी है।

2) बाप के डायरेक्शन पर चलकर, पढ़ाई को ध्यान से पढ़कर अपने ऊपर आपेही कृपा वा आशीर्वाद करनी है, अपने को राजतिलक देना है। निंदक को अपना मित्र समझ उनकी भी सद्गति करनी है।

वरदान:- रॉयल और सिम्पल दोनों के बैलेन्स से कार्य करने वाले ब्रह्मा बाप समान भव
जैसे ब्रह्मा बाप साधारण रहे, न बहुत ऊंचा न बहुत नींचा। ब्राह्मणों का आदि से अब तक का नियम है कि न बिल्कुल सादा हो, न बहुत रॉयल हो। बीच का होना चाहिए। अभी साधन बहुत हैं, साधन देने वाले भी हैं फिर भी कोई भी कार्य करो तो बीच का करो। ऐसा कोई न कहे कि यहाँ तो राजाई ठाठ हो गया है। जितना सिम्पल उतना रायॅल – दोनों का बैलेन्स हो।
स्लोगन:- दूसरों को देखने के बजाए स्वयं को देखो और याद रखो – “जो कर्म हम करेंगे, हमें देख और करेंगेˮ।

TODAY MURLI 25 JULY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 25 July 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 24 July 2018 :- Click Here

25/07/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, Baba, the Innocent Lord, has come to give you devotees the fruit of devotion. He has to tell you the secrets of coming and going and give you the inheritance of liberation and liberation-in-life.
Question: Which children attain a royal status for 21 births? Who becomes part of the subjects?
Answer: Those who become real children and completely surrender themselves to the Father attain a royal status. Those who are stepchildren and don’t surrender themselves become part of the subjects for 21 births. You follow shrimat and, with your power of yoga, claim the tilak of a kingdom. Here, there is no question of weapons etc. You have to become conquerors of Maya and conquerors of the world with the power of your intellects’ yoga.
Song: No one is unique like the Innocent Lord. 

Om shanti. Look at what they say! “The One who protects the devotees”. Therefore, the devotees must surely be facing some calamities. The Protector of the devotees. Who is protected? Those who are trapped by calamities. Shiv Baba is the Protector of those devotees. Devotees definitely receive the fruit of their devotion. They do make effort. The law says that you receive your reward by making effort. In this world, all those who inspire you to make effort are those of the devilish community. In fact, you need someone good to inspire you to make effort. Only the one Father, the Innocent Lord, inspires you to make real effort. Worldly teachers and parents make you make limited effort. None of them can give you unlimited knowledge. Although some might become barristers or judges, they would have to make effort in their next birth once again to become that; they would not remain barristers all the time. They didn’t create any reward. Their gurus teach them something and relate scriptures to them, but the happiness that they receive is also only temporary. There is no reward created. Then, in their next birth, they have to adopt a guru again. The Innocent Lord is the Satguru. The Satguru always speaks the truth. He alone comes and tells you the true story. These are the directions of the Satguru through which you receive liberation and liberation-in-life. These directions are to change you from an ordinary human into Narayan. The Innocent Lord sits here and tells you the secrets of the coming and going and of the beginning, the middle and the end. No one else knows of the land of liberation or the land of liberation-in-life (heaven). Only the Supreme Father, the Supreme Soul, is the Master of the land of liberation and He resides in the supreme abode. You children now receive directions. Baba has repeatedly explained to you that He is the Father, Teacherand Guru. If Krishna had been God, did He then just play a flute? Is that all He did? No one would call Shri Krishna the Father, Teacher and Satguru. Now that Baba is showing you the true path, you should stop following the wrong path. They started adopting gurus in the copper age. There are no gurus in the golden and silver ages. The Mother Guru gave you the nectar of knowledge and created heaven. Then, there was no need for gurus there. Now look! I give you children such good directions. Baba has made you all stand on the battlefield and told you to conquer the five vices and then become a deity like Shri Krishna. We know that Shri Krishna became a conqueror of Maya and a conqueror of the world, that is, he became the prince of the world. (Explain using the picture of Shri Krishna). You daughters know that you are on a battlefield. You have to become conquerors of Maya and conquerors of the world. Just as Krishna became Narayan, and then there was also the rest of the kingdom with him, so they would all definitely be on the battlefield to conquer Maya. Five thousand years ago, this Shri Krishna was on the battlefield in his final birth. In the same way, he is also now on a battlefield. You too are on the battlefield. You have to conquer the five vices and become that. This is called the intoxication of becoming Narayan. You have to become conquerors of Maya and conquerors of the world. This is such an easy thing. There wasn’t just one Draupadi. All the mothers are Draupadis. Baba saves everyone from being stripped in heaven. There, no one indulges in vice. They say: If that’s so, how would children be created? However, that world is pure. When sannyasis leave their homes and families, does the world end then? The world continues to grow. Sannyasis know that purity is good and that it is good to renounce the vices. Those who don’t have renunciation bow down to those who renounce everything and make them their gurus. These mothers become gurus through that true Satguru, and the rosary of victory is created from them. Baba says: Children, study and claim a status! The Father has now made you stand on a battlefield to make you become like Shri Krishna. The whole kingdom is his. There will be princes and princesses. None of them now can be called kings or emperors or princes and princesses. You are now receiving divine directions from the Father. The mothers have now received the urn of knowledge. These daughters give devils nectar to imbibe and make them into deities. Deities are not going to rule in the old world. The new world is being created. So children, now be quick! One is the bondage of vices and then there are karmic bondages. In order to become free from those, you have to follow shrimat. Baba says: Remember Me and become bodiless. It isn’t that souls merge into the Supreme Soul and become one. No one has merged into the light and no one will merge. If a soul were to merge, he would become non-living. Souls are imperishable. Bodies are called perishable. Souls have yoga with Me and become pure. Then they receive pure bodies. The soul will become pure and then this body will finish. Then, a pure body of pure elements will be created. This body doesn’t become worthy of being worshipped. Only deities are worthy of worship. You can offer flowers to them. They are called Shri Shri, that is, the most elevated of all. Why is Shri said twice? Because the sun-dynasty Lakshmi and Narayan are the highest of all; both the souls and their bodies are pure. They are called 16 celestial degrees full. The moon dynasty is just 14 degrees and so they are just called Shri. Lakshmi and Narayan receive an elevated title: Shri Shri Lakshmi and Shri Shri Narayan. They are an emperor and empress whereas Rama and Sita are a king and queen. It is numberwise: whatever each one becomes, he receives a title accordingly. Here, too, there are emperors and kings. Those who are senior are called emperors. Kings bow down in front of emperors. The emperors are first and the kings come after them. Therefore, you now have to follow shrimat. Shri Shri Jagadguru. There is the rosary of Rudra. He is also the Master of the World. He is the Teacher and also the Guru. You have to remember such a Baba. People say that they have a bondage and that someone should liberate them. (The story of the parrot who wouldn’t let go of the branch). Oh! But God is saying that He has come to take you. You just have to hold His finger. Just do that which He tells you to do. You definitely do have to become pure. Why should you remember this graveyard? Although you have to live here, simply let your intellect’s yoga be connected there. This is called remembering the land of peace and the land of happiness. You also have to become a destroyer of attachment. He is the Husband of all husbands, the Father of all fathers, the Guru of all gurus. Therefore, you need to make effort in order to become like that (Shri Krishna). You made effort in the previous cycle and the kingdom of the golden age was established. It is happening once again. You have to remain pure for this. Do whatever work your husband asks you to do, but just remain pure. If you don’t remain pure, you won’t become a master of Paradise. The Father has now come and is making you children into residents of heaven. He is the One who purifies the impure. He is also the Master of the World. You daughters are now making human beings into deities with the wealth of knowledge. This is knowledge. You have taken so much enlightenment into your intellects. No one else has this knowledge. All are stumbling around from door to door. Here, Baba has made us sit in so much silence. Baba says: Even if you are about to die, sit and listen. Let there be the nectar of knowledge on your lips and remembrance of Shiv Baba when the life force leaves your body. Then, your final thoughts will lead you to your destination. Otherwise, neither will your sins be absolved nor will you become a conqueror of attachment. You will lose your fruit of devotion unnecessarily. All are devotees and are trapped in the bondage of Maya. Shiva, the Innocent Lord, is the Protector. He has come to protect you and so you have to follow His advice. You have to go into Shri Krishna’s clan. Shri Krishna is “full pass  the full moon. When the time for those of the moon dynasty comes, they take their kingdom. So, why should you fail? If you want to pass fully, make effort. This is not something to be afraid of. Become fearless and free from animosity. You will have to explain. It is those who say that God is omnipresent who have made the condition of Bharat so bad. God is only the one Innocent Lord who protects all the devotees. Krishna, who was worthy of worship, has now become a worshipper. The Krishna soul is now here. Now understand something. This is a very big lottery. This is a horse race. We have to race with the yoga of our intellects. The more we race, the sooner we will reach Baba and our sins will be absolved. Baba has repeatedly explained to you: You are standing on a battlefield. People would ask: Where are your weapons etc. that you would be victorious over the whole world? (Baba demonstrated by acting.) We are becoming conquerors of Maya and the world with the power of our intellects’ yoga. We are sitting in meditation, that is, we are in remembrance of Shiv Baba. Our intellects are dangling there. The Husband of all husbands has said: You have to become faithful to your Husband and not remember anyone else. You have to reach the stage of maturity by having yoga. A kumari remembers her husband-to-be. That one is a bodily being. God is bodiless and so you can remember Him with your intellects. You will then break body consciousness and become soul conscious. The cycle continues to turn in your intellects. We will definitely go to our land of heaven. You will become the sun dynasty, then the moon dynasty, then the merchant dynasty and then the shudra dynasty. Then Baba will come and change you from shudras to Brahmins. Talk to yourselves in this way. Some children go and study in the gardens. You can also sit in solitude and remember Shiv Baba. Our past accounts will be settled and then we will rule. We are now on a battlefield. Then, we will rule the unshakeable, immovable kingdom of happiness and peace in Bharat. We are at war! We are all on a battlefield. This is a matter of the power of yoga. There is no question of difficulty in this. You simply have to follow Baba’s shrimat and the tilak of the kingdom will then be automatically applied. You receive a blessing: May you have a long life! May you have a child! There, there is plenty of wealth. They have a vision in advance when they are to have a child. There, there is pure love. There is no question of vice there. That is the viceless world. Look how first class and sweet Shri Krishna is. We now have to become like that. You have to become queens. Meera just used to sing devotional songs. She did not find God. That is the path of devotion. Meera is also somewhere now. She would also have taken knowledge if she were a true devotee. We have been performing devotion from the copper age onwards. Understand with your intellect: Shiv Baba, I belong to You. I will claim the full inheritance from You. I surrender myself to You. Then Baba will also surrender Himself to you 21 times. If you don’t surrender yourself, if you become a stepchild, you will be one of the subjects 21 times. Baba says: Remember Me and I will help you. He would surely help those who are His children. Why should He help others? Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. We have to conquer Maya and become conquerors of the world like Shri Krishna. Become constantly victorious on this battlefield. Never be defeated.
  2. Liberate yourself from the bondage of the vices and karmic bondages by following shrimat. Practise being bodiless. Race with your intellect’s yoga.
Blessing: May you be a powerful server and give everyone blessings with the speciality of keeping a balance.
Now, the service of you powerful souls is to give everyone blessings, whether you give them through your eyes or through the jewel on the forehead. You saw sakar Baba in his final karmateet stage – how he had the speciality of keeping a balance and the wonder of blessings. So, follow the father. This is easy and powerful service: it takes little time, less effort and brings greater results. So, continue to give everyone blessings with your soul-conscious form.
Slogan: To condense expansion in a second and give the experience of the essence of knowledge is to be a light-and-might-house .

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 25 JULY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 25 July 2018

To Read Murli 24 July 2018 :- Click Here
25-07-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – भोलानाथ बाबा आये हैं भक्तों को भक्ति का फल देने, उन्हें अगम-निगम का भेद सुनाकर मुक्ति-जीवनमुक्ति का वर्सा देने”
प्रश्नः- 21 जन्मों के लिए राजाई पद की प्राप्ति किन बच्चों को होती है? प्रजा में कौन जाते हैं?
उत्तर:- जो मातेले बन बाप पर पूरा-पूरा बलिहार जाते हैं उन्हें राजाई पद प्राप्त होता है और जो सौतेले हैं, बलिहार नहीं जाते हैं वो 21 जन्म ही प्रजा में चले जाते हैं। तुम श्रीमत पर चल अपने ही योगबल से राजाई का तिलक लेते हो। यहाँ हथियार आदि की बात नहीं। तुम्हें बुद्धियोग बल से मायाजीत-जगतजीत बनना है।
गीत:- भोलेनाथ से निराला…….. 

ओम् शान्ति। देखो, क्या कहते हैं? भक्तों की रक्षा करने वाला। तो जरूर भक्त कोई आ़फत में आये हुए हैं। भक्तों का रखवाला। रक्षा किसकी होती है? जो आ़फत में फँसा हुआ है। इन भक्तों का रक्षक शिवबाबा है। भक्तों को भक्ति का फल जरूर मिलता है। मेहनत तो करते हैं ना। कायदा कहता है पुरुषार्थ से प्रालब्ध मिलती है। अब इस दुनिया में पुरुषार्थ कराने वाले सब हैं आसुरी सम्प्रदाय। वास्तव में पुरुषार्थ कराने वाला चाहिए कोई अच्छा। सच्चा पुरुषार्थ सिर्फ एक भोलानाथ बाप ही कराते हैं। जिस्मानी लौकिक माँ, बाप, टीचर सभी हद का पुरुषार्थ कराते हैं। बेहद की नॉलेज कोई दे न सके। भल कोई बैरिस्टर-जज बनेंगे फिर दूसरे जन्म में नयेसिर पुरुषार्थ करना पड़े। बैरिस्टर तो कायम नहीं रहेंगे। प्रालब्ध तो कुछ बनी नहीं। गुरू भी करके कुछ सिखलाते हैं, शास्त्र सुनाते हैं परन्तु वह भी अल्पकाल का सुख मिला। प्रालब्ध तो कुछ बनी नहीं। फिर दूसरे जन्म में गुरू करना पड़े। यह भोलानाथ है सतगुरू। सतगुरू हमेशा सत्य ही बोलता है। वही आकर सत्य कथा सुनाते हैं। यह है सतगुरू की मत जिससे मुक्ति-जीवनमुक्ति मिलती है। यह है नर को नारायण बनाने की मत। भोलानाथ अगम-निगम, आदि-मध्य-अन्त का राज़ बैठ बताते हैं। और कोई मुक्तिधाम, जीवनमुक्तिधाम (स्वर्ग) को जानते ही नहीं। मुक्तिधाम का मालिक है परमपिता परमात्मा, जो परमधाम में रहने वाला है। अब बच्चों को मत मिलती है। बाबा ने बार-बार समझाया है कि यह बाप-टीचर-गुरू है। अगर कृष्ण भगवान् था तो क्या उसने सिर्फ मुरली बजाई? बस! श्रीकृष्ण को बाप-टीचर-सतगुरू भी कोई नहीं कहेंगे। अब बाबा जबकि सच्चा रास्ता बताते हैं तो फिर झूठा छोड़ देना चाहिए। गुरू शुरू हुए हैं द्वापर से। सतयुग-त्रेता में गुरू होते नहीं। माता गुरू ने ज्ञान अमृत पिलाए स्वर्ग बनाया फिर वहाँ गुरू की दरकार नहीं। अब देखो – तुम बच्चों को कितनी अच्छी मत देता हूँ। सबको युद्ध के मैदान में बाबा ने खड़ा किया है कि 5 विकारों पर जीत पहनो और फिर ऐसे श्रीकृष्ण समान देवता बनो। हम जानते हैं – यह श्रीकृष्ण मायाजीत बन जगतजीत अर्थात् जगत का प्रिन्स बना। (श्रीकृष्ण का चित्र हाथ में उठाए समझाना) तुम बच्चियां जानती हो कि हम युद्ध के मैदान पर हैं। मायाजीत-जगतजीत बनना है। जैसे कृष्ण जो फिर नारायण बना फिर उनके साथ और भी सारी राजधानी थी तो वह सब जरूर युद्ध के मैदान में होंगे, जो माया पर जीत पाते होंगे। 5 हजार वर्ष पहले यह श्रीकृष्ण भी अपने अन्तिम जन्म में युद्ध के मैदान में थे। वैसे अब यह भी युद्ध के मैदान में हैं। तुम भी युद्ध के मैदान में हो। 5 विकारों पर जीत पाकर तुमको यह बनना है। इसको कहा जाता है नारायणी नशा। मायाजीत-जगतजीत बनना है। कितनी सहज बात है! सिर्फ एक द्रोपदी तो नहीं थी। सब मातायें द्रोपदियां हैं। सबको सतयुग में नंगन होने से बचाते हैं। वहाँ कोई विकार में नहीं जाते। कहेंगे – भला तब बच्चे कैसे पैदा होंगे? अरे, वह तो पवित्र दुनिया है। तुम सन्यासी लोग घरबार छोड़ते हो तो फिर दुनिया खत्म हो जाती है क्या? दुनिया तो बढ़ती रहती। सन्यासी जानते हैं पवित्रता अच्छी है। विकारों का सन्यास तो अच्छा है। सन्यास करने वालों को सन्यास न करने वाले माथा टेक गुरू बनाते हैं। उस सच्चे सतगुरू द्वारा यह मातायें गुरू बनती हैं, जिन्हों की ही विजय माला बनी हुई है। बाबा कहते हैं – बच्चे, तुम पढ़कर पद पाओ। अब बाप ने युद्ध के मैदान में खड़ा किया है – श्रीकृष्ण जैसा बनाने के लिए। उनकी सारी राजधानी है। प्रिन्स-प्रिन्सेज तो होंगे ना। अभी तो न राजा-महाराजा कहला सकते, न प्रिन्स-प्रिन्सेज। अब तुमको बाप की दैवी मत मिलती है। अब माताओं को ज्ञान-कलष मिला है। यह बच्चियां अमृत पिलाए असुरों को देवता बनाती हैं। देवतायें पुरानी दुनिया पर थोड़ेही राज्य करेंगे। नई दुनिया भी बन रही है। तो बच्चे, अब जल्दी-जल्दी करो। एक तो है विकारों का बंधन, दूसरा फिर है कर्मबन्धन। उनसे छूटने लिए श्रीमत पर चलना पड़े। बाबा कहते हैं – मुझे याद कर अशरीरी बनो। ऐसे नहीं कि आत्मा परमात्मा में मिल एक हो जाती है। न कोई ज्योति ज्योत समाया है, न समाने ही हैं। आत्मा समा जाए तो जड़ हो जाए। आत्मा तो अविनाशी है। शरीर को विनाशी कहा जाता है। आत्मा मेरे साथ योग लगाकर पवित्र बनती है। फिर शरीर भी पवित्र मिलेगा। आत्मा पवित्र हो जायेगी फिर यह शरीर ख़लास हो जायेगा। फिर पवित्र तत्वों से पवित्र शरीर बनेंगे। यह शरीर पूजन लायक नहीं बनते। पूज्य तो सिर्फ देवतायें ही हैं। उन पर फूल चढ़ा सकते हैं। उन्हों को श्री श्री अर्थात् श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ कहा जाता है। श्री श्री दो बार क्यों कहते हैं? क्योंकि सूर्यवंशी लक्ष्मी-नारायण हैं ऊंच ते ऊंच, उनकी आत्मा और शरीर दोनों पवित्र हैं। उन्हों को 16 कला सम्पूर्ण कहेंगे। चन्द्रवंशी हैं 14 कला तो चन्द्रवंशी को सिर्फ श्री कहेंगे। लक्ष्मी-नारायण को ऊंच टाइटिल मिलता है – श्री श्री लक्ष्मी, श्री श्री नारायण। वह है महाराजा-महारानी और राम-सीता हैं राजा-रानी। नम्बरवार जो जैसा बनता है उनको ऐसा टाइटिल मिलता है। यहाँ भी महाराजायें और राजायें हैं। बड़े को महाराजा कहा जाता है। राजायें महाराजाओं के आगे सिर झुकायेंगे। महाराजा पहले हैं। राजा पीछे हैं। तो अब श्रीमत पर चलना है। श्री श्री जगत गुरू। रूद्र माला है ना। जगत का मालिक भी वह है। टीचर भी वह है तो गुरू भी वह है। ऐसे बाबा को याद करना पड़े। कहते हैं – बंधन है कोई छुड़ावे। (तोते का मिसाल) अरे, भगवान् कहते हैं अब मैं तुमको लेने आया हूँ, तुम सिर्फ अंगुली पकड़ो। वह जो कहे सो करो, पवित्र तो जरूर बनना पड़े। इस कब्रिस्तान को क्या याद करना है। रहना भल यहाँ है परन्तु सिर्फ बुद्धियोग वहाँ लगाना है। इसको कहा जाता है शान्तिधाम, सुखधाम को याद करना। नष्टोमोहा भी बनना है। वह है पतियों का पति, बापों का बाप, गुरूओं का गुरू। तो ऐसा (श्रीकृष्ण) बनने लिए मेहनत करनी पड़े। कल्प पहले भी पुरुषार्थ किया था और सतयुग की राजधानी स्थापन हुई थी। फिर हो रही है। इसमें पवित्र रहना है। पति जो सेवा कहे वह तुम करो बाकी सिर्फ पवित्र रहना है। पवित्र नहीं बनेंगे तो वैकुण्ठ का मालिक नहीं बनेंगे। अब बाप आकर तुम बच्चों को स्वर्गवासी बनाते हैं। पतितों को पावन करने वाला भी वह है। जगत का मालिक भी वह है।

अब तुम बच्चियाँ ज्ञान धन से मनुष्यों को देवता बनाओ। यह तो नॉलेज है। बुद्धि में कितनी रोशनी आ गई है। और कोई को यह नॉलेज नहीं। सब दर-दर धक्के खाते रहते हैं। यहाँ हमको बाबा ने कितना साइलेन्स में बिठा दिया है। बाबा कहते – मरने लायक हो तो भी बैठकर सुनो। ज्ञान अमृत मुख में हो, शिवबाबा की याद हो तब प्राण तन से निकलें। फिर अन्त मती सो गति हो जायेगी। नहीं तो न विकर्म विनाश होंगे, न मोह जीत बनेंगे। मुफ्त भक्ति का फल गंवा देंगे। सब भक्त हैं ना, माया के बंधन में फँसे हुए हैं। रखवाला है भोलानाथ शिव। रक्षा करने आये हैं तो उनकी राय पर चलना है। श्रीकृष्ण के कुल में जाना है। श्रीकृष्ण है फुल पास, सम्पूर्ण चन्द्रमा। जब चन्द्रवंशियों का समय आता है तो वह अपना राज्य ले लेते हैं। तो नापास क्यों होना चाहिए? फुल पास होना है तो पुरुषार्थ करो। डरने का काम नहीं। निर्भय-निर्वैर बनना है। समझाना तो पड़ेगा ना। जो कहते हैं भगवान् सर्वव्यापी है उन्होंने ही भारत को ऐसी दुर्दशा में लाया है। भगवान् तो एक ही भोलानाथ है, जो सब भक्तों का रखवाला है। कृष्ण जो पूज्य था सो अब पुजारी है। अब कृष्ण की आत्मा यहाँ है। अब कुछ समझो। बहुत बड़ी लॉटरी है। घोड़े दौड़ है। हमको दौड़ना है बुद्धियोग से। जितना हम दौड़ेंगे उतना जल्दी बाबा के पास पहुँचेंगे। विकर्म विनाश होंगे। बाबा ने बार-बार समझाया हैं – हम युद्ध के मैदान में खड़े हैं। मनुष्य कहेंगे हथियार आदि कहाँ हैं – जो सारी सृष्टि पर विजय पायेंगे? (बाबा ने एक्ट कर दिखाई) हम बुद्धियोग बल से मायाजीत-जगतजीत बन रहे हैं। हम नेष्ठा में बैठे हैं अर्थात् शिवबाबा की याद में हैं। बुद्धि वहाँ लटकी हुई है। पतियों के पति ने कहा है – पतिव्रता बनना, और कोई को याद नहीं करना। योग लगाते-लगाते परिपक्व अवस्था को पाना है। कन्या भी पति को याद करती है ना। वह तो हैं देहधारी। परमात्मा तो अशरीरी है, उनको बुद्धि से ही याद कर सकते हैं। देह-अभिमान तोड़ देही-अभिमानी बन जायेंगे। बुद्धि में चक्र तो फिरता रहता है। हम अपने स्वर्गधाम जरूर पधारेंगे। सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी फिर वैश्य, शूद्र वंशी बनेंगे। फिर बाबा आकर शूद्र से ब्राह्मण बनायेंगे। ऐसे-ऐसे अपने से बात करनी है। बच्चे लोग बगीचों में जाकर पढ़ते हैं। तुम भी एकान्त में बैठ शिवबाबा को याद करो। हमारा पुराना हिसाब-किताब चुक्तू होगा फिर हम राज्य करेंगे। अभी हम युद्ध के मैदान में है। फिर हम भारत पर अटल-अखण्ड सुख-शान्ति का राज्य करेंगे। वी आर एट वार…….. हम सब लड़ाई के मैदान पर हैं। यह है सारी योगबल की बात। इनमें तकलीफ तो कोई नहीं। सिर्फ बाबा की श्रीमत पर चलना है। फिर आटोमेटिकली राजाई का तिलक लग जायेगा। वरदान मिल जाता है – आयुश्वान भव, पुत्रवान भव। वहाँ धन आदि सब अकीचार रहता है। पहले से साक्षात्कार होता है कि बच्चा आने वाला है। वहाँ मुख का प्यार होता है। विकार की बात ही नहीं है। वह है ही निर्विकारी दुनिया। श्रीकृष्ण देखो – कितना फर्स्टक्लास मीठा है! अब ऐसा बनना है। तुमको तो पटरानी बनना है, मीरा तो सिर्फ भजन गाती थी उनको भगवान् थोड़ेही मिला, वह तो है ही भक्ति मार्ग। मीरा भी अभी कहाँ न कहाँ है। उसने भी ज्ञान लिया होगा, अगर पक्की भक्तिन होगी। हम भी द्वापर से भक्ति करते आये हैं ना। बुद्धि से समझना है – शिवबाबा मैं आपकी हूँ। आप से पूरा वर्सा लूंगी। मैं आप पर बलिहार जाती हूँ। तो बाबा भी 21 बार बलिहार जायेंगे। अगर बलिहार नहीं जायेंगे, सौतेले बनेंगे तो 21 बार प्रजा में आयेंगे। बाबा कहते हैं – तुम मेरे को याद करो तो हम मदद भी करेंगे। मदद तो जरूर अपने बच्चों को ही करेंगे, दूसरे को क्यों करेंगे! अच्छा!

मात-पिता बापदादा का मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति याद, प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) माया पर जीत पाकर हमें श्रीकृष्ण समान जगतजीत बनना है। इस युद्ध के मैदान में सदा विजयी बनना है। हार नहीं खानी है।

2) श्रीमत से स्वयं को विकारों के बंधन और कर्मबन्धन से मुक्त करना है। अशरीरी बनने का अभ्यास करना है। बुद्धियोग की दौड़ी लगानी है।

वरदान:- बैलेन्स की विशेषता को धारण कर सर्व को ब्लैसिंग देने वाले शक्तिशाली, सेवाधारी भव
अभी आप शक्तिशाली आत्माओं की सेवा है सर्व को ब्लैसिंग देना। चाहे नयनों से दो, चाहे मस्तकमणी द्वारा दो। जैसे साकार को लास्ट कर्मातीत स्टेज के समय देखा – कैसे बैलेन्स की विशेषता थी और ब्लैसिंग की कमाल थी। तो फालो फादर करो – यही सहज और शक्तिशाली सेवा है। इसमें समय भी कम, मेहनत भी कम और रिजल्ट ज्यादा निकलती है। तो आत्मिक स्वरूप से सबको ब्लैसिंग देते चलो।
स्लोगन:- विस्तार को सेकण्ड में समाकर ज्ञान के सार का अनुभव कराना ही लाइट-माइट हाउस बनना है।

Brahma kumaris murli 25 July 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 25 July 2017

To Read Murli 24 July 2017 :- Click Here

 

25/07/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाबा आया है तुम्हें सौभाग्यशाली बनाने, सौभाग्यशाली अर्थात् स्वर्ग का मालिक, तुम्हारा भी कर्तव्य है सबको आपसमान बनाना”
प्रश्नः- सबसे नम्बरवन कान्फ्रेन्स कब और कौन सी होती है? उससे प्राप्ति क्या है?
उत्तर:- संगम पर आत्मा और परमात्मा का मिलन ही नम्बरवन कान्फ्रेन्स है। जब यह कान्फ्रेन्स होती है तब आत्माओं को परमात्मा से मुक्ति वा जीवनमुक्ति का वर्सा मिलता है। इसे ही सच्चा-सच्चा कुम्भ भी कहा जाता है। यह कुम्भ का मेला फर्स्टक्लास कान्फ्रेन्स है। इसके बाद फिर कोई कान्फ्रेन्स, यज्ञ तप आदि होते नहीं। सब बन्द हो जाते हैं।
गीत:- माता ओ माता….

ओम् शान्ति। बच्चों ने महिमा का गीत सुना। बच्चे जानते हैं भक्ति मार्ग में महिमा ही होती आई है। जो पास्ट हो गया है उनकी फिर महिमा होती है। जगत अम्बा की महिमा गाते हैं – तू हो भाग्य विधाता। अब यह हुई भक्ति और महिमा। तुम भक्ति और महिमा कर नहीं सकते हो। तुम जानते हो कि सौभाग्य विधाता एक ही बाप है। भाग्य विधाता वा सौभाग्य विधाता है ही एक, दूसरा न कोई। यह इस समय ही तुम जानते हो। वह सिर्फ भक्ति करते हैं, महिमा गाते हैं। अभी हम भगत तो नहीं हैं। हम हो गये भगवान के बच्चे। कैसे भाग्य अथवा सौभाग्य बनाते हैं, कैसे अपने को भाग्यशाली अथवा सौभाग्यशाली श्रीमत पर बनाते हैं, वह है हर एक के पुरुषार्थ पर। इस समय पर तुम पुरुषार्थी हो बाप से वर्सा लेने के। यह जानते हो सभी बच्चों को एक बाप से वर्सा लेना है। भाग्यशाली वा सौभाग्यशाली अथवा सौभाग्य विधाता तुम हो क्योंकि माँ बाप के बच्चे हो। तुम्हारा भी यह कर्तव्य है, हर एक मनुष्य को भाग्यशाली, सौभाग्यशाली बनाना। सौभाग्यशाली अर्थात् स्वर्ग के मालिक बनें। 100 प्रतिशत भाग्यशाली जो हैं, वह स्वर्ग के मालिक बनते हैं। उनमें भी फिर नम्बरवार हैं। सूर्यवंशी को ही सौभाग्यशाली कहेंगे। त्रेता में दो कला कम हो जाती हैं तो उनको स्वर्ग नहीं कहेंगे। उनको सूर्यवंशी नहीं कहेंगे। बच्चे तो जानते हैं कि हमको तो 100 प्रतिशत सौभाग्यशाली बनना है। सूर्यवंशी में प्रिन्स-प्रिन्सेज बनना है। यह ईश्वरीय कॉलेज है ना। ईश्वर है विश्व का रचयिता। यह है ही विश्व का मालिक बनने का कॉलेज। ईश्वर पढ़ाते हैं, कहते हैं मैं तुमको पढ़ाता हूँ। महाराजाओं का महाराजा बनाता हूँ। यह है तुम्हारी पढ़ाई के ऊपर, जो जितना पढ़ता है वह औरों को भी ऐसे ही पढ़ायेंगे। ऐसे ही सौभाग्यशाली बनायेंगे। तुम बच्चों का धन्धा ही यह है। शिवबाबा है सिखलाने वाला। बाकी सब, ब्रह्मा सरस्वती ब्राह्मण बच्चे सब सीखते हैं। ब्राह्मण ब्राह्मणियां जानते हैं हम फिर सो देवता बनेंगे। इस समय भारत का कोई धर्म है नहीं। देवता धर्म को जानते ही नहीं। धर्म को न जानना गोया इरिलीजस हैं। धर्म में ताकत होती है, देवी-देवता धर्म वाले जब सतयुग में थे तो अथाह सुख था। अभी तो है कलियुग। पुरुषार्थ कर सतयुग में आना है। जीवनमुक्त बनना है। जीवनबन्ध का त्याग करना है। स्वर्ग को याद करना है। याद कहो या योग कहो, बात एक ही है। योग को ही कहा जाता है कम्यूनियन (मिलाप) तुम्हारा योग है ही एक शिवबाबा से। दूसरे से कम्यूनियन है ही नहीं, सिवाए एक शिवबाबा के। तो उसको ही याद करो। बाबा आप कितने मीठे हो। न मन, न चित था, आपने तो कितनी कमाल की है जो हमको स्वर्ग की बादशाही देते हो। कोई भी हालत में बाप को याद करना है अथवा कम्यूनियन करना है। बाबा को याद करते हैं, बाबा से बोलते हैं। उनके साथ सभी का कम्यूनियन है। जब आफत आती है तब कहते हैं हे भगवान इनकी आयु बड़ी करो, अर्जी हमारी मर्जी बाबा आपकी। तो यह कम्यूनियन हुआ ना। यह याद की यात्रा होती ही एक बार है जबकि बाप आकर सिखलाते हैं। और सब कम्यूनियन मनुष्य, मनुष्य को सिखलाते हैं। गुरू के पास जायेंगे, कृपा, क्षमा करो, यह आफत मिटाओ। अभी तुम बाबा के पास बैठे हो। बाबा को याद कर कह सकते हो, बाबा इस हालत में हम क्या करें। बाबा समझाते हैं बच्चे यह ड्रामा अनुसार दु:ख सुख होता है। तुम्हारा कम्यूनियन है ही बाप से।

[wp_ad_camp_3]

 

 

बाबा कहते हैं बच्चे यह तुम्हारा कर्मभोग है। अभी हम तुम्हारी कर्मातीत अवस्था बनाने आया हूँ। कर्मभोग तो भोगना ही है। अभी मैं तुमको ऐसा ऊंच कर्म सिखलाता हूँ। यह कम्यूनियन होती ही है आत्माओं की परमात्मा के साथ। परमात्मा बैठ आत्माओं के साथ कम्यूनियन करते हैं और कहाँ भी परमात्मा आत्माओं से कम्यूनियन करे या आत्मायें परमात्मा से करें, यह हो नहीं सकता। वह तो न आत्मा अपने को जानती है, न परमात्मा को ही जानते हैं। सिर्फ गपोड़े मारते हैं। यह कब सुना कि परमात्मा स्टार है, उनमें सारा अविनाशी पार्ट नूँधा हुआ है। कब ऐसे अक्षर सुने? उन्हों का कम्यूनियन कभी होता नहीं है। बातचीत होती नहीं है। वह तो सिर्फ ब्रह्म को याद करते हैं। ब्रह्म से तो कुछ बातचीत हो न सके। बातचीत तो होगी आत्माओं से। आकाश से क्या बातचीत करेंगे। आत्मायें जो महतत्व में रहती हैं, वह यहाँ पार्ट बजाने आती हैं, बाकी निर्वाणधाम में क्या कम्यूनियन करेंगे। वह तो तत्व है ना। कम्यूनियन होती है परमात्मा के साथ। आत्मा ही बोलती है, सुनती है इन आरगन्स से। आत्मा बिगर तो शरीर कुछ काम कर न सके। यह आत्माओं की परमात्मा के साथ कम्यूनियन एक ही बार होती है। जिसकी ही महिमा है आत्मायें और परमात्मा अलग रहे बहुकाल…..। अभी कम्यूनियन होता है। बस फिर कभी होता ही नहीं। देवताओं की कम्यूनियन होती है क्या? वह तो कभी याद भी नहीं करते। अभी तुम बच्चे जानते हो हम आत्माओं का कनेक्शन है ही बाप से। बाप को ही सब याद करते हैं हे पतित-पावन आओ। आत्मा ने कहा परमपिता परमात्मा को, जो इस समय इस शरीर में प्रवेश है। उनको कहते हैं शान्ति देने वाला दाता। हम फिर शान्तिधाम में कैसे आवें? बाप कहते हैं बच्चे मुझे सुख शान्ति का वर्सा देने कल्प-कल्प आना पड़ता है। याद भी करते हैं पतित-पावन आओ। तो बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं बच्चे, अब मेरे पास आना है। आत्मा पर पापों को बोझा बहुत है। आत्मा को ही भोगना पड़ता है। शरीर धारण कराए सजा देते हैं। तब तो आत्मा को फील होगा ना। शरीर को चोट लगने से आत्मा को दु:ख होता है ना। पुण्य आत्मा, पाप आत्मा कहा जाता है। परन्तु मनुष्यों में ज्ञान है नहीं कि मैं आत्मा हूँ। कम्यूनियन सब आत्माओं की आत्माओं के साथ होती है। आत्मा ही सारा खेल करती है। आत्मा शरीर के साथ कहती है मेरे 7 बच्चे हैं। परमपिता परमात्मा निराकार है। कहते हैं मैं इस शरीर में आया हूँ, मुझे इतने बच्चे हैं। कितने बच्चों का दादा बनता हूँ। हिसाब किया जाए। परमपिता परमात्मा ब्रह्मा द्वारा मनुष्य सृष्टि रचते हैं। अच्छा ब्रह्मा किसका बच्चा? शिवबाबा का। यह बुद्धि में रहता है परमपिता ब्रह्मा द्वारा सृष्टि रचते हैं। ब्रह्मा क्रियेटर नहीं है। क्रियेटर निराकार शिव परमात्मा को ही कहेंगे। वह आकर प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा एडाप्ट करते हैं। बच्चे-बच्चे कहते रहते हैं। अभी यह बातें तुम समझते हो। वह भी सभी की बुद्धि में एकरस नहीं बैठता है। बाप ही वर्सा देंगे, लायक बनायेंगे। बाप को याद करो। इसको ही भारत का प्राचीन योग कहा जाता है, इससे ही विकर्म विनाश होंगे। फिर अन्त मती सो गति हो जायेगी। याद से ही निरोगी बनेंगे। आयु बड़ी हो जायेगी। पुरुषार्थ से प्रालब्ध मिली हुई है। सतयुग के मालिक वह कैसे बने, यह कोई भी नहीं जानते हैं। महिमा गाते रहते हैं। अर्थ कुछ भी नहीं समझते। कितनी पूजा करते हैं, यात्रायें करते हैं। यहाँ तो बिल्कुल शान्ति है। भल बाप ज्ञान का सागर है परन्तु कहते हैं यह तो सेकेण्ड की बात है। सिर्फ मुझे याद करो तो वर्सा तुम्हारा है ही। मनमनाभव, मध्याजी भव। बाकी है डीटेल की समझानी। वह भी कितने समय से देते रहते हैं। वह लोग कितनी कान्फ्रेन्स करते रहते हैं। रिलीजस कान्फ्रेन्स बुलाते हैं। योग की कान्फ्रेन्स बुलाते हैं। सब फालतू हैं। सेकेण्ड में जीवनमुक्ति देने वाला है ही एक बाप। आत्माओं और परमात्मा की जब कान्फ्रेन्स होती है तब आत्माओं को परमात्मा से मुक्ति मिलती है। गाया भी जाता है आत्मा परमात्मा अलग रहे बहुकाल… सुन्दर मेला कर दिया जब सतगुरू मिला दलाल। बाप ही आकर नई दुनिया रचते हैं, लायक बनाते हैं। सबसे नम्बरवन कान्फ्रेन्स यह है। इनको कुम्भ का मेला कहते हैं। कुम्भ संगम को कहा जाता है। यह संगम का मेला फर्स्ट क्लास कान्फ्रेन्स है, जबकि आत्माओं से परमात्मा आकर मिलते हैं। सेकेण्ड में जीवनमुक्ति मिलती है। इसके बाद फिर कोई कान्फ्रेन्स यज्ञ तप आदि कुछ होते नहीं, सब बन्द हो जाते हैं। तुम्हारी कान्फ्रेन्स कैसी नम्बरवन है, आत्माओं और परमात्मा की। आत्मा जीव में प्रवेश करने से जीवात्मा बनती है। कहते हैं मैं इनमें प्रवेश न करूं तो अपना परिचय कैसे दूँ और त्रिकालदर्शी वा स्वदर्शन चक्रधारी कैसे बनाऊं। तुम कहते हो हम स्वदर्शन चक्रधारी बनते हैं। मनुष्य नहीं समझते। विष्णु के साथ कृष्ण को भी चक्र दे देते हैं। गीता में कृष्ण का नाम दिया है। नहीं तो चक्र की बात है नहीं। तुमको बैठ सृष्टि के आदि मध्य अन्त का राज़ समझाते हैं। यह कान्फ्रेन्स कितनी फर्स्टक्लास है। और जो भी कान्फ्रेन्स करते हैं वेस्ट आफ टाइम है। सबसे अच्छी कान्फ्रेन्स यह है। जीव आत्माओं और परमात्मा की। जीव आत्मा याद करती है परमात्मा को, तो जरूर जीव में आयेंगे ना। नहीं तो बोले कैसें? यह कान्फ्रेन्स सबसे अच्छी है। जो परमपिता परमात्मा आकर सर्व को सद्गति देते हैं। पतित आत्माओं के साथ जरूर पतित-पावन की ही कान्फ्रेन्स होगी, तब तो पावन बनायेंगे। कितनी सहज समझने की बातें हैं। उत्तम ते उत्तम योग है आत्माओं का परमात्मा के साथ। सो भी परमात्मा खुद आकर सिखलाते हैं मामेकम् याद करो। हे जीव की आत्माओं मुझ अपने पारलौकिक बाप के साथ योग रखो तो तुम्हारे सारे विकर्म विनाश होंगे। जबकि आत्मायें सब परमात्मा से मिलती हैं, तो जरूर परमात्मा आकर वर्सा देंगे। सर्व का सद्गति दाता जीवनमुक्ति दाता वह बाप है। ऐसी बातें और कोई तो सुनाते नहीं। तुम सुनायेंगे तो कहेंगे और तो किसी से ऐसी बातें सुनी नहीं। तुम तो बहुत अच्छा समझाते हो। यह बातें तो शास्त्रों में भी नहीं हैं। परन्तु शास्त्रों में कहाँ से आयें? बाप कहते हैं सेकेण्ड में जीवनमुक्ति। शास्त्रों से क्या सीखेंगे? बाबा है कालों का काल। बच्चों को ले जाते हैं। जरूर आयेंगे तब तो पावन बनाकर ले जायेंगे। तुमको पावन बना रहे हैं। सतयुग में सब पावन हैं। जरूर संगम पर आया होगा पावन बनाने। अब तुम बच्चे जानते हो यह कल्प का संगम है। बाप आये हैं तुम्हारा कम्यूनियन अपने साथ कराते हैं। कहते हैं मैं साधारण ब्रह्मा तन में आया हूँ। यह दादा कोई ब्रह्मा नहीं था। भल असुल ब्राह्मण थे परन्तु वह छोड़ दिया। अब ब्रह्मा द्वारा रचना रचनी है तो ब्रह्मा चाहिए। खुद कहते हैं मैं ब्रह्मा के तन में आता हूँ। नम्बरवन पावन सो ही नम्बरवन पतित, 84 जन्म पूरे लिये तो पावन बनेगा ना। फिर फरिश्ता बनते हैं ततत्वम्। ब्राह्मण सो देवता बनेंगे। जिसका जास्ती पुरुषार्थ चलता वह जास्ती ऊंच पद पायेंगे। तुम सब कल्याणकारी हो ना। सिर्फ एक बाबा थोड़ेही करते हैं। खुदाई खिदमतगार तो बहुत चाहिए ना। तुम आन गॉड फादरली सर्विस पर हो। अंग्रेजी अक्षर बहुत अच्छा है। वह भल हेविन में जाते नहीं हैं, गाते हैं ना – स्थापन करता हेविनली गॉड फादर है। मुसलमान बहिश्त कहते हैं। खुद बहिश्त में जाते थोड़ेही हैं। यह तो बुद्धि की बात है। स्वर्ग भारत था, अभी नर्क है। हेविन स्थापन करने वाला बाप के सिवाए कोई हो न सके। हेल का अन्त आये तब तो फिर बाप आकर हेविन में ले जावे। हेल में ही बाप को आना पड़ता है, हेविन का मालिक बनाने। अभी तुम दोज़क और बहिश्त के बीच में बैठे हो और तो सभी हैं ही दोज़क में। सिर्फ तुम बच्चे ही अपने पुरुषार्थ से बहिश्त में जाते हो, इसलिए तुमको बहुत खुशी होनी चाहिए। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) एक बाप से ही सच्चा कम्यूनियन (योग) रखना है बाप से ही दिल की वार्तालाप करनी है। बाप के सामने ही अपनी बात रखनी है, किसी देहधारी के सामने नहीं।

2) खुदाई खिदमतगार बन सबको बहिश्त में चलने का रास्ता बताना है। सबका कल्याणकारी बनना है।

वरदान:- सर्व शक्तियों का अनुभव करते हुए समय पर सिद्धि प्राप्त करने वाले निश्चित विजयी भव 
सर्व शक्तियों से सम्पन्न निश्चयबुद्धि बच्चों की विजय निश्चित है ही। जैसे किसी के पास धन की, बुद्धि की वा सम्बन्ध-सम्पर्क की शक्ति होती है तो उसे निश्चय रहता है कि यह क्या बड़ी बात है! आपके पास तो सब शक्तियां हैं। सबसे बड़ा धन अविनाशी धन सदा साथ है, तो धन की भी शक्ति है, बुद्धि और पोजीशन की भी शक्ति है, इन्हें सिर्फ यूज़ करो, स्व के प्रति कार्य में लगाओ तो समय पर विधी द्वारा सिद्धि प्राप्त होगी।
स्लोगन:- व्यर्थ देखने वा सुनने का बोझ समाप्त करना ही डबल लाइट बनना है।

 

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 22 July 2017 :- Click Here

Font Resize