25 august ki murli

TODAY MURLI 25 AUGUST 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 25 August 2020

25/08/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, never become tired and leave the pilgrimage of remembrance. Constantly make effort to remain soul conscious. In order to become sweet and attract the Father’s love, stay in remembrance.
Question: What effort must you definitely make in order to become 16 celestial degrees full and perfect?
Answer: Consider yourself to be a soul as much as possible and remember the Father, the Ocean of Love, and you will become perfect. Knowledge is very easy, but, in order to become 16 celestial degrees full, you must first have remembranceto make yourself a soul perfect. By considering yourself to be a soul, you will become sweet; all conflict will come to an end.
Song: You are the Ocean of Love. We thirst for one drop.

Om shanti. The Ocean of Love makes His children into oceans of love too. The aim and objective of you children is to become like Lakshmi and Narayan. Everyone loves them so much. You children know that Baba is making you as sweet as they are. It’s here that you become sweet. However, it is only by having remembrance that you will become that. The yoga of Bharat has been remembered; this is remembrance. It’s through this remembrance that you become the masters of the world like them. This is the effort that you children have to make. Don’t be arrogant by thinking that you have so much knowledge. The main thing is remembrance. It’s remembrance that brings you love. If you want to become very sweet and lovely and also claim a high status, then make effort! Otherwise, there will be great repentance. There are many children who are unable to stay in remembrance. Because they become tired, they stop having remembrance. First of all, make a lot of effort to become soul conscious. Otherwise, the status you receive will be very low. You will never become as sweet again. Very few children attract a lot of love by staying in remembrance. There must be remembrance of the Father alone. The more you remember Him, the sweeter you will become. Lakshmi and Narayan remembered God a great deal in their previous birth. It was having this remembrance that they became so sweet. The sun dynasty of the golden age is the first number and the moon dynasty is the second number. Lakshmi and Narayan are loved very much. There is a great deal of difference between the features of Lakshmi and Narayan and those of Rama and Sita. Lakshmi and Narayan have never been defamed by anyone. Krishna was defamed by mistake. Rama and Sita have also been defamed. The Father says: You will become very sweet when you consider yourselves to be souls. One experiences’ great pleasure in considering oneself to be a soul and in remembering the Father. The more you remember Him, the more satopradhan you will become. You will become 16 celestial degrees full. To be 14 celestial degrees is still classified as defective. Then there continue to be more defects. You have to become 16 celestial degrees perfect. Knowledge is very easy; anyone can learn it. You have been taking 84 births every cycle. None of you can return home until you become completely pure. Otherwise, punishment has to be experienced. Baba explains to you again and again: As much as possible, make this one point firm: I am a soul. When I, a soul, reside in my home I am satopradhan. Then I come here and take birth. Some take a certain number of births and others take a different number of births. By the end, all souls become tamopradhan. The honour of the world continues to decrease. When a house is new, there is so much comfort experienced in it. Then it becomes defective. The degrees continue to decrease. If you children want to go to the perfect world, you have to become perfect. Simply having knowledge does not mean being perfect. You souls have to become perfect. As much as possible consider yourselves to be the soul, the children of Baba. You should experience great internal happiness. Human beings become happy considering themselves to be bodily beings: “I am a child of so-and-so.” That intoxication is temporary. You children now have to connect your intellects in yoga to the Father completely. You mustn’t become confused in this. Even if you have to go abroad somewhere, simply make one point firm: I have to remember Baba. Baba is the Ocean of Love. This praise doesn’t belong to any human being. Souls praise their Father. All souls are brothers. The Father of all souls is One. The Father tells everyone: Children, you were satopradhan and you have now become tamopradhan. By becoming tamopradhan, you have become unhappy. Now, the Supreme Father, the Supreme Soul, tells us souls: At first you were perfect. All souls are perfect when they are there. Although they play different parts, they are still perfect. No one can return there without having purity. You have peace as well as happiness in the land of happiness. That is why your religion is the highest on high. You have limitless happiness. Just think about what you are becoming! You are becoming the masters of heaven! That birth is as valuable as a diamond. Birth now is like a shell. The Father now signals to you to stay in remembrance. You called out to Him: Come and make us impure ones pure! In the golden age they are completely viceless. Rama and Sita are not called complete. They went into the second grade. They didn’t pass in the subject of the pilgrimage of remembrance. No matter how clever you may be in knowledge, the Father would not find you sweet with just that. It is only when you stay in remembrance that you become sweet. You will then also find the Father to be very sweet. This study is very common. Become pure and stay in remembrance! Note this down very carefully. When you stay on the pilgrimage of remembrance, all the conflict that takes place and the arrogance that develops will stop happening. The main thing is to consider yourselves to be souls and to remember the Father. People in the world fight and quarrel so much! They make their lives like poison. This word does not exist in the golden age. As you make further progress, the lives of human beings will become even more poisonous. This is the ocean of poison. Everyone is lying in the extreme depths of hell. There is a lot of dirty behaviour; it continues to increase day by day. This is called the dirty world. They continue to make one another unhappy because there are the evil spirits of body consciousness and lust. The Father says: Chase away those evil spirits! It is those evil spirits that make you ugly. It is when you have become ugly by sitting on the pyre of lust, that the Father comes and says: I have come once again to rain the nectar of knowledge. What are you becoming now? The palaces there will be studded with diamonds. There will be all types of comfort there. Here, everything is adulterated. Look at what they feed cows! All the goodness and strength is taken out and they are just given hay. Cows don’t even receive enough food. Compare that to the cows shown with Krishna. They are seen as firstclass cows. In the golden age, the cows are such, don’t even ask! Even just seeing them makes you feel so happy. Here, all the essence is taken out of everything. This is a very dirty world. You must not attach your hearts to it. The Father says: You have become so vicious! Look how they continue to kill one another in war. Those who invented the atomic bomb were given so much respect. Those are the things that are going to destroy everything. The Father sits here and explains to you what the human beings of today are like and what the human beings of tomorrow will be like. You are now in between. Good company takes you across and bad company drowns you. You hold on to the Father’s hand in order to become the most elevated human beings. When someone is learning to swim, he has to hold the hand of the person teaching him. Otherwise, he would choke. Here, too, you have to hold Baba’s hand. Otherwise, Maya will pull you down. You are making the whole world into heaven. You should bring yourselves to a state of intoxication. We are establishing our own kingdom by following shrimat. All human beings make donations. They give money to the fakirs (ascetics). They even donate something to pundits on their pilgrimage. They would definitely donate something, even if only a handful of rice. All of that has continued on the path of devotion. The Father is now making us into double donors. The Father says: Open a Godly university and hospital on three square feet of land to which human beings can come and be cured for 21 births. Look at all the different types of illness that exist now. Sometimes, there is such a bad odour when someone is ill that you feel distaste when you enter the hospital. The suffering of karma is so severe! The Father says: In order to become free from all of this sorrow, simply remember Me! I don’t give you any other difficulty. Baba knows that you children have faced many difficulties. The faces of vicious human beings completely change; they become like those of a corpse. They are just like an alcoholic who cannot stay without drinking alcohol. He becomes very intoxicated with alcohol, but that only lasts for a short time. It is through vice that the lifespan of vicious human beings has become so short. The lifespan of the viceless deities was on average 125 to 150 years. When you become everhealthy, your lifespan would also increase, would it not? You then have bodies that are free from disease. The Father is also called the eternal Surgeon. When the Satguru gives the ointment of knowledge, the darkness of ignorance is dispelled. It is because they don’t know the Father that they say there is the darkness of ignorance. This applies to the people of Bharat. They know that Christ existed at such-and-such a time. They have a whole list of all those dates. They show how the Popes sat on the throne, numberwise. It is only Bharat that doesn’t know the biography of anyone. They call out: Oh, Supreme Soul! Oh, Remover of Sorrow and Bestower of Happiness! Oh, Mother and Father! Achcha, tell us the biography of the Mother and Father. They don’t know anything at all! You know that this is the most elevated confluence age. We are now becoming the most elevated human beings. Therefore, we should study fully. Many people are so trapped in the opinions of society. This Baba was not concerned about anyone. He was insulted so much! He never thought or dreamt about any of this. However, whilst walking along the path, the Brahmin became trapped. It was when Baba made him into a Brahmin that he began to be insulted. The whole of the local council was on one side and Dada was on the other side. The whole Sindhi council asked him: What are you doing? In the Gita, the versions of God Shiva say: Lust is the greatest enemy. By conquering this you become a master of the world. This expression is in the Gita. Someone is making me say: By conquering the vice of lust you become a conqueror of the world. Lakshmi and Narayan also conquered this. There is no question of a war in this. I have come to give you the kingdom of heaven. Now become pure and remember the Father. When a wife says that she will become pure but the husband says that he will not become pure, then one is a swan, the other a stork. The Father comes to make you into swans who select the jewels of knowledge. However, there is quarrelling when one becomes pure and the other one doesn’t. In the beginning they had a lot of strength. No one now has that much courage. They say that they are heirs, but to become an heir is a completely different matter. In the beginning it was their wonder. Those from grand homes instantly renounced everything and came in order to claim their inheritance. Therefore, they became worthy. Those who came at the beginning performed great wonders. Scarcely anyone like them emerges now. They are very much concerned about the opinions of society. Those who came in the beginning showed a lot of courage. Hardly anyone now has that much courage. Yes, the poor have that courage. In order to become a bead of the rosary, you do have to make effort. The rosary is very long. There is the rosary of eight and also of 108 and then there is also a rosary of 16,108. The Father Himself says: Make plenty of effort! Consider yourselves to be souls! Some don’t tell the truth. Even those who consider themselves to be very good commit sin. Although they may be knowledgeable souls, and they can explain knowledge very well, they don’t have any yoga. Therefore, they can’t sit in Baba’s heart. If they don’t stay in remembrance, they don’t climb onto Baba’s heart-throne. Remembrance begets remembrance. Those at the beginning instantly surrendered themselves. To surrender yourself is not like going to your aunty’s home! The main thing is remembrance, for only then will your mercury of happiness rise. As your degrees have continued to decrease, so your sorrow has continued to increase. Now, the more your degrees increase, the higher the mercury of your happiness will rise. At the end you will have visions of everything. You will see what status those who had a lot of remembrance will receive. You will have many visions at the very end. Whilst destruction is taking place, you will be eating the halva of having visions of heaven. Baba explains to you again and again: Increase your remembrance. Baba does not become pleased by you just explaining a little knowledge to someone. There is the story of a pundit who said: Chant the name of Rama and you will be able to go across the river. This means that there is victory by having faith. When you have doubt in the Father, you are led to destruction. Your sins are absolved by having remembrance of the Father. Day and night, make effort. Then the mischief of the physical senses will stop. This requires a lot of effort. There are many who have no chart of remembrance. They have no deep foundation. Stay in remembrance under all circumstances as much as possible, for only then will you become satopradhan, 16 celestial degrees full. Together with purity, there also has to be the pilgrimage of remembrance. It is only when you remain pure that you will be able to stay in remembrance. Imbibe this point very well. The Father is so egoless. As you make progress, everyone will bow down at your feet. They will say: Truly, these mothers are opening the gates to heaven. There is still very little power of remembrance. Don’t remember bodily beings! It does require a lot of effort to become satopradhan from tamopradhan. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost, now-found children, love, remembrance and Good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Don’t attach your heart to this old impure dirty world that causes sorrow. By holding the Father’s hand you can go across.
  2. In order to become a bead of the rosary, maintain a lot of courage and make effort. Become a swan who selects pearls of knowledge. Don’t perform any sinful acts.
Blessing: May you become free from all attractions and experience a constant and stable stage by having constant awareness of the Father and service.
servant always remembers his service and his master. In the same way, world servants, the true server children cannot remember anything except the Father and service. It is only by doing this that you can experience being in a constant and stable stage. All tastes seem tasteless apart from the sweetness of the one Father. By tasting the sweetness of the one Father, you cannot be attracted to anything else. Making intense effort for a constant and stable stage will free you from all attractions. This is the elevated destination.
Slogan: In order to pass any paper of delicate situations, make your nature powerful.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 25 AUGUST 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 25 August 2020

Murli Pdf for Print : – 

25-08-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – कभी थक कर याद की यात्रा को छोड़ना नहीं, सदा देही-अभिमानी रहने का प्रयत्न करो, बाप का प्यार खींचने वा स्वीट बनने के लिए याद में रहो”
प्रश्नः- 16 कला सम्पूर्ण अथवा परफेक्ट बनने के लिए कौन-सा पुरूषार्थ जरूर करना है?
उत्तर:- जितना हो सके स्वयं को आत्मा समझो। प्यार के सागर बाप को याद करो तो परफेक्ट बन जायेंगे। ज्ञान बहुत सहज है लेकिन 16 कला सम्पूर्ण बनने के लिए याद से आत्मा को परफेक्ट बनाना है। आत्मा समझने से मीठे बन जायेंगे। सब खिटखिटें समाप्त हो जायेंगी।
गीत:- तू प्यार का सागर है…….. 

ओम् शान्ति। प्यार का सागर अपने बच्चों को भी ऐसा प्यार का सागर बनाते हैं। बच्चों की एम ऑब्जेक्ट ही है कि हम ऐसे लक्ष्मी-नारायण बनें। इनको सब कितना प्यार करते हैं। बच्चे जानते हैं बाबा हमको इन जैसा मीठा बनाते हैं। मीठा यहाँ ही बनना है और बनेंगे याद से। भारत का योग गाया हुआ है, यह है याद। इस याद से ही तुम इन जैसे विश्व के मालिक बनते हो। यही बच्चों को मेहनत करनी है। तुम इस घमण्ड में मत आओ कि हमको ज्ञान बहुत है। मूल बात है याद। याद ही प्यार देती है। बहुत मीठे, बहुत प्यारे बनने चाहते हो, ऊंच पद पाना चाहते हो तो मेहनत करो। नहीं तो बहुत पछतायेंगे क्योंकि बहुत बच्चे हैं जिनसे याद में रहना पहुँचता नहीं है, थक जाते हैं तो छोड़ देते हैं। एक तो देही-अभिमानी बनने के लिए बहुत प्रयत्न करो। नहीं तो बहुत कम पद पा लेंगे। इतना स्वीट कभी नहीं होंगे। बहुत थोड़े बच्चे हैं जो खींचते हैं क्योंकि याद में रहते हैं। सिर्फ बाप की याद चाहिए। जितना याद करेंगे उतना बहुत स्वीट बनेंगे। इन लक्ष्मी-नारायण ने भी अगले जन्म में बहुत याद किया है। याद से स्वीट बने हैं। सतयुग के सूर्यवंशी पहले नम्बर में हैं, चन्द्रवंशी सेकण्ड नम्बर हो गये। यह लक्ष्मी-नारायण बहुत प्रिय लगते हैं। इन लक्ष्मी-नारायण के फीचर्स और राम-सीता के फीचर्स में बहुत फ़र्क है। इन लक्ष्मी-नारायण पर कभी कोई कलंक नहीं लगाया है। कृष्ण पर भूल से कलंक लगाये हैं, राम-सीता पर भी लगाये हैं।

बाप कहते हैं बहुत मीठा तब बनेंगे जब समझेंगे कि हम आत्मा हैं। आत्मा समझ बाप को याद करने में बहुत मज़ा है। जितना याद करेंगे उतना सतोप्रधान, 16 कला सम्पूर्ण बनेंगे। 14 कला फिर भी डिफेक्टेड हुआ फिर और डिफेक्ट होती जाती है। 16 कला परफेक्ट बनना है। ज्ञान तो बिल्कुल सहज है। कोई भी सीख जायेंगे। 84 जन्म कल्प-कल्प लेते आये हैं। अब वापिस तो कोई नहीं जा सकते, जब तक पूरा पवित्र न बनें। नहीं तो सज़ायें खानी पड़े। बाबा बार-बार समझाते हैं, जितना हो सके पहले-पहले यह एक बात पक्की करो कि मैं आत्मा हूँ। हम आत्मा अपने घर में रहती हैं तो हम सतोप्रधान हैं फिर यहाँ जन्म लेते हैं। कोई कितने जन्म, कोई कितने जन्म लेते हैं। पिछाड़ी में तमोप्रधान बनते हैं। दुनिया की वह इज्जत कम होती जाती है। नया मकान होता है तो उसमें कितनी आराम आती है। फिर डिफेक्टेड हो जाता है, कलायें कम होती जाती हैं। अगर तुम बच्चे चाहते हो परफेक्ट दुनिया में जायें तो परफेक्ट बनना है। सिर्फ नॉलेज को परफेक्ट नहीं कहा जाता। आत्मा को परफेक्ट बनना है। जितना हो सके कोशिश करो – मैं आत्मा हूँ, बाबा का बच्चा हूँ। अन्दर में बहुत खुशी रहनी चाहिए। मनुष्य अपने को देहधारी समझ खुश होते हैं। हम फलाने का बच्चा हूँ ……. वह है अल्पकाल का नशा। अब तुम बच्चों को बाप के साथ पूरा बुद्धियोग लगाना है, इसमें मूँझना नहीं है। भल विलायत में कहाँ भी जाओ सिर्फ एक बात पक्की रखो, कि बाबा को याद करना है। बाबा प्यार का सागर है। यह महिमा कोई मनुष्य की नहीं। आत्मा अपने बाप की महिमा करती है। आत्मायें सब आपस में भाई-भाई हैं। सभी का बाप एक है। बाप सबको कहते हैं – बच्चे, तुम सतोप्रधान थे सो अब तमोप्रधान बने। तमोप्रधान बनने से तुम दु:खी बने हो। अब मुझ आत्मा को परमात्मा बाप कहते हैं तुम पहले परफेक्ट थे। सब आत्मायें वहाँ परफेक्ट ही हैं। भल पार्ट अलग-अलग है, परन्तु परफेक्ट तो हैं ना। प्योरिटी बिगर तो वहाँ कोई जा न सके। सुखधाम में तुमको सुख भी है तो शान्ति भी है, इसलिए तुम्हारा ऊंच ते ऊंच धर्म है। अथाह सुख रहता है। विचार करो हम क्या बनते हैं। स्वर्ग के मालिक बनते हैं। वह है हीरे जैसा जन्म। अभी तो कौड़ी जैसा जन्म है। अब बाप इशारा देते हैं याद में रहने का। तुम बुलाते ही हो कि हमको आकर पतित से पावन बनाओ। सतयुग में हैं सम्पूर्ण निर्विकारी। राम-सीता को भी सम्पूर्ण नहीं कहेंगे। वह सेकण्ड ग्रेड में चले गये। याद की यात्रा में पास नहीं हुए। नॉलेज में भल कितना भी तीखा हो, कभी भी बाप को मीठा नहीं लगेंगे। याद में रहेंगे तब ही मीठे बनेंगे। फिर बाप भी तुमको मीठा लगेगा। पढ़ाई तो बिल्कुल कॉमन है, पवित्र बनना है, याद में रहना है। यह अच्छी रीति नोट कर दो फिर यह जो कहाँ-कहाँ खिट-खिट होती है, अहंकार आ जाता है, वह कभी नहीं होगा – याद की यात्रा में रहने से। मूल बात अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। दुनिया में मनुष्य कितना लड़ते झगड़ते हैं। जीवन ही जैसे ज़हर मिसल कर देते हैं। यह अक्षर सतयुग में नहीं होंगे। आगे चल यहाँ तो मनुष्यों की जीवन और ही ज़हर होती जायेगी। यह है ही विषय सागर। रौरव नर्क में सब पड़े हैं, बहुत गन्द है। दिन-प्रतिदिन गन्द वृद्धि को पाता रहता है। इनको कहा जाता है डर्टी वर्ल्ड। एक-दो को दु:ख ही देते रहते क्योंकि देह-अभिमान का भूत है। काम का भूत है। बाप कहते हैं इन भूतों को भगाओ। यह भूत ही तुम्हारा काला मुँह करते हैं। काम चिता पर बैठ काले बन जाते हैं तब बाप कहते हैं फिर हम आकर ज्ञान अमृत की वर्षा करते हैं। अभी तुम क्या बनते हो! वहाँ तो हीरों के महल होते हैं, सब प्रकार के वैभव होते हैं। यहाँ तो सब मिलावटी चीजें हैं। गऊओं का खाना देखो, सबसे तन्त (सार) निकाल बाकी दे देते हैं। गाय को खाना भी ठीक नहीं मिलता। कृष्ण की गायें देखो कैसी फर्स्टक्लास दिखाते हैं। सतयुग में गायें ऐसी होती हैं, बात मत पूछो। देखने से ही फरहत आ जाती है। यहाँ तो हर चीज़ से इसेन्स निकाल देते हैं। यह बहुत छी-छी गन्दी दुनिया है। तुम्हें इससे दिल नहीं लगानी है। बाप कहते हैं तुम कितने विकारी बन गये हो। लड़ाई में कैसे एक-दो को मारते रहते हैं। एटॉमिक बॉम्ब्स बनाने वालों का भी मान कितना है, इनसे सबका विनाश हो जाता है। बाप बैठ बताते हैं – आज के मनुष्य क्या हैं, कल के क्या होंगे। अभी तुम हो बीच में। संग तारे कुसंग बोरे। तुम पुरूषोत्तम बनने के लिए बाप का हाथ पकड़ते हो। कोई तैरना सीखते हैं तो सिखलाने वाले का हाथ पकड़ना होता है। नहीं तो घुटका आ जाए, इसमें भी हाथ पकड़ना है। नहीं तो माया खींच लेती है। तुम इस सारे विश्व को स्वर्ग बनाते हो। अपने को नशे में लाना चाहिए। हम श्रीमत से अपनी राजाई स्थापन कर रहे हैं। सभी मनुष्य मात्र दान तो करते ही हैं। फकीरों को देते हैं। तीर्थ यात्रा पर पण्डों को दान देते हैं, चावल मुट्ठी भी दान जरूर करेंगे। वह सब भक्ति मार्ग में चला आता है। अभी बाबा हमको डबल दानी बनाते हैं। बाप कहते हैं तीन पैर पृथ्वी पर तुम यह ईश्वरीय युनिवर्सिटी, ईश्वरीय हॉस्पिटल खोलो जिसमें मनुष्य 21 जन्मों के लिए आकर शफा पायेंगे। यहाँ तो कैसी-कैसी बीमारियां होती हैं। बीमारी में कितनी बांस हो जाती है। हॉस्पिटल में देखो तो ऩफरत आती है। कर्मभोग कितना है। इन सब दु:खों से छूटने के लिए बाप कहते हैं – सिर्फ याद करो और कोई तकलीफ तुमको नहीं देता हूँ। बाबा जानते हैं बच्चों ने बहुत तकलीफ देखी है। विकारी मनुष्यों की शक्ल ही बदल जाती है। एकदम जैसे मुर्दे बन जाते हैं। जैसे शराबी शराब बिगर रह नहीं सकते। शराब से बहुत नशा चढ़ता है परन्तु अल्पकाल के लिए। इससे विकारी मनुष्यों की आयु भी कितनी छोटी हो जाती है। निर्विकारी देवताओं की आयु एवरेज 125-150 वर्ष होती है। एवरहेल्दी बनेंगे तो आयु भी तो बढ़ेगी ना। निरोगी काया हो जाती है। बाप को अविनाशी सर्जन भी कहा जाता है। ज्ञान इन्जेक्शन सतगुरू दिया अज्ञान अन्धेर विनाश। बाप को जानते नहीं हैं इसलिए अज्ञान अंधेरा कहा जाता है, भारतवासियों की ही बात है। क्राइस्ट को तो जानते हैं फलाने संवत में आया। उन्हों की सारी लिस्ट है। कैसे नम्बरवार पोप गद्दी पर बैठते हैं। एक ही भारत है जो कोई की बॉयोग्राफी नहीं जानते। बुलाते भी हैं हे दु:ख हर्ता सुख कर्ता परमात्मा, हे मात-पिता……. अच्छा, मात-पिता की बॉयोग्राफी तो बताओ। कुछ भी पता नहीं।

तुम जानते हो – यह है पुरुषोत्तम संगमयुग। हम अभी पुरुषोत्तम बन रहे हैं तो पूरा पढ़ना चाहिए। लोक-लाज कुल की मर्यादा में भी बहुत फँसे रहते हैं। इस बाबा ने तो कोई की भी परवाह नहीं की। कितनी गालियाँ आदि खाई, न मन न चित। रास्ते चलते-चलते ब्राह्मण फँस गया। बाबा ने ब्राह्मण बनाया तो गाली खाने लगे। सारी पंचायत थी एक तरफ, दादा दूसरी तरफ। सारी सिन्धी पंचायत कहे कि यह क्या करते हो! अरे गीता में भगवानुवाच है ना – काम महाशत्रु है, इन पर जीत पाने से विश्व के मालिक बनोगे। यह तो गीता के अक्षर हैं। मुझ से भी कोई कहलाते हैं कि काम विकार को जीतने से तुम जगतजीत बनेंगे। इन लक्ष्मी-नारायण ने भी जीत पाई है ना। इसमें लड़ाई आदि की कोई बात नहीं। तुमको स्वर्ग की बादशाही देने आया हूँ। अब पवित्र बनो और बाप को याद करो। स्त्री कहे हम पावन बनेंगी, पति कहे मैं नहीं बनूँगा। एक हंस एक बगुला हो जाता। बाप आकर ज्ञान रत्न चुगने वाला हंस बनाते हैं। परन्तु एक बनता, दूसरा नहीं बनता तो झगड़ा होता है। शुरूआत में तो बहुत ताकत थी। अभी इतनी हिम्मत कोई में नहीं है। भल कहते हैं हम वारिस हैं, परन्तु वारिस बनने की बात और है। शुरू में तो कमाल थी। बड़े-बड़े घर वाले फट से छोड़ आये वर्सा पाने। तो वह लायक बन गये। पहले-पहले आने वालों ने तो कमाल की। अभी ऐसे कोई विरले निकलेंगे। लोक-लाज बहुत है। पहले जो आये उन्हों ने बहुत हिम्मत दिखाई। अभी कोई इतना साहस रखें – बहुत मुश्किल है। हाँ, गरीब रख सकते हैं। माला का दाना बनना है तो पुरूषार्थ करना पड़े। माला तो बहुत बड़ी है। 8 की भी है, 108 की भी है, फिर 16108 की भी है। बाप खुद कहते हैं बहुत-बहुत मेहनत करो। अपने को आत्मा समझो। सच बतलाते नहीं हैं। अच्छे-अच्छे जो अपने को समझते हैं, उनसे भी विकर्म हो जाते हैं। भल ज्ञानी तू आत्मा हैं। समझानी अच्छी है परन्तु योग है नहीं, दिल पर नहीं चढ़ते। याद में ही नहीं रहते तो दिल पर भी नहीं चढ़ते। याद से ही याद मिलेगी ना। शुरू में फट से वारी गये। अब वारी जाना मासी का घर नहीं। मूल बात है याद, तब ही खुशी का पारा चढ़ेगा। जितनी कलायें कम होती गई हैं उतना दु:ख बढ़ता गया है। अब फिर जितनी कलायें बढ़ेगी उतना खुशी का पारा चढ़ेगा। पिछाड़ी में तुमको सब साक्षात्कार होंगे। जास्ती याद करने वालों को क्या पद मिलता है। बहुत पिछाड़ी में साक्षात्कार होगा। जब विनाश होगा तब तुम स्वर्ग के साक्षात्कार के हलवे खायेंगे। बाबा बार-बार समझाते हैं – याद को बढ़ाओ। किसको थोड़ा समझाया – इसमें बाबा खुश नहीं होते। एक पण्डित की भी कथा है ना। बोला राम-राम कहने से सागर पार हो जायेंगे। यह दिखाते हैं – निश्चय में ही विजय है। बाप में संशय आने से विनशन्ती हो जाते हैं। बाप की याद से ही पाप कटते हैं, रात-दिन कोशिश करनी चाहिए। फिर कर्मेन्द्रियों की चंचलता बन्द हो जायेगी। इसमें बहुत मेहनत है। बहुत हैं जिनकी याद का चार्ट है नहीं। गोया फाउन्डेशन है नहीं। जितना हो सके कैसे भी याद करना है तब ही सतोप्रधान, 16 कला बनेंगे। पवित्रता के साथ याद की यात्रा भी चाहिए। पवित्र रहने से ही याद में रह सकेंगे। यह प्वाइंट अच्छी रीति धारण करो। बाप कितना निरहंकारी है। आगे चल तुम्हारे चरणों में सब झुकेंगे। कहेंगे बरोबर यह मातायें स्वर्ग का द्वार खोलती हैं। याद का जौहर अभी कम है। कोई भी देहधारी को याद नहीं करना है। तमोप्रधान से सतोप्रधान बनने में ही मेहनत है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) इस पतित छी-छी दु:खदाई दुनिया से दिल नहीं लगानी है। एक बाप का हाथ पकड़ इससे पार जाना है।

2) माला का दाना बनने के लिए बहुत साहस रख पुरुषार्थ करना है। ज्ञान रत्न चुगने वाला हंस बनना है। कोई भी विकर्म नहीं करने हैं।

वरदान:- बाप और सेवा की स्मृति से एकरस स्थिति का अनुभव करने वाले सर्व आकर्षण मुक्त भव
जैसे सर्वेन्ट को सदा सेवा और मास्टर याद रहता है। ऐसे वर्ल्ड सर्वेन्ट, सच्चे सेवाधारी बच्चों को भी बाप और सेवा के सिवाए कुछ भी याद नहीं रहता, इससे ही एकरस स्थिति में रहने का अनुभव होता है। उन्हें एक बाप के रस के सिवाए सब रस नीरस लगते हैं। एक बाप के रस का अनुभव होने के कारण कहाँ भी आकर्षण नहीं जा सकती, यह एकरस स्थिति का तीव्र पुरूषार्थ ही सर्व आकर्षणों से मुक्त बना देता है। यही श्रेष्ठ मंजिल है।
स्लोगन:- नाज़ुक परिस्थितियों के पेपर में पास होना है तो अपनी नेचर को शक्तिशाली बनाओ।

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 25 AUGUST 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 25 August 2019

To Read Murli 24 August 2019:- Click Here
25-08-19
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 18-01-85 मधुबन

प्रतिज्ञा द्वारा प्रत्यक्षता

आज समर्थ दिवस पर समर्थ बाप अपने समर्थ बच्चों को देख रहे हैं। आज का दिन विशेष ब्रह्मा बाप द्वारा विशेष बच्चों को समर्थी का वरदान अर्पित करने का दिन है। आज के दिन बापदादा अपनी शक्ति सेना को विश्व की स्टेज पर लाते – तो साकार स्वरूप में शिव शक्तियों का प्रत्यक्ष रूप में पार्ट बजाने का दिन है। शक्तियों द्वारा शिव बाप प्रत्यक्ष हो स्वयं गुप्त रूप में पार्ट बजाते रहते हैं। शक्तियों को प्रत्यक्ष रूप में विश्व के आगे विजयी प्रत्यक्ष करते हैं। आज का दिन बच्चों को बापदादा द्वारा समान भव के वरदान का दिन है। आज का दिन विशेष स्नेही बच्चों को नयनों में स्नेह स्वरूप से समाने का दिन है। आज का दिन बापदादा विशेष समर्थ और स्नेही बच्चों को मधुर मिलन द्वारा अविनाशी मिलन का वरदान देता है। आज के दिन अमृतवेले से चारों ओर के सर्व बच्चों के दिल का पहला संकल्प मधुर मिलन मनाने का, मीठे-मीठे महिमा के दिल के गीत गाने का, विशेष स्नेह की लहर का दिन है। आज के दिन अमृतवेले अनेक बच्चों के स्नेह के मोतियों की मालायें, हर एक मोती के बीच बाबा, मीठे बाबा का बोल चमकता हुआ देख रहे थे। कितनी मालायें होंगी। इस पुरानी दुनिया में 9 रत्नों की माला कहते हैं लेकिन बापदादा के पास अनेक अलौकिक अनोखी अमूल्य रत्नों की मालायें थीं। ऐसी मालायें सतयुग में भी नहीं पहनेंगे। यह मालायें सिर्फ बापदादा ही इस समय बच्चों द्वारा धारण करते हैं। आज का दिन अनेक बंधन वाली गोपिकाओं के दिल के वियोग और स्नेह से सम्पन्न मीठे गीत सुनने का दिन है। बापदादा ऐसी लगन में मगन रहने वाली स्नेही, सिकीलधे आत्माओं को रिटर्न में यही खुशखबरी सुनाते कि अब प्रत्यक्षता का नगाड़ा बजने वाला ही है इसलिए हे सहज योगी और मिलन के वियोगी बच्चे यह थोड़े से दिन समाप्त हुए कि हुए। साकार स्वीट होम में मधुर मिलन हो ही जायेगा। वह शुभ दिन समीप आ रहा है।

आज का दिन हर बच्चे के दिल से दृढ़ संकल्प करने से सहज सफलता का प्रत्यक्ष फल पाने का दिन है। सुना आज का दिन कितना महान है! ऐसे महान दिवस पर सभी बच्चे जहाँ भी हैं, दूर होते भी दिल के समीप हैं। बापदादा भी हर एक बच्चे को स्नेह और बापदादा को प्रत्यक्ष करने की सेवा के उमंग-उत्साह के रिटर्न में स्नेह भरी बधाई देते हैं क्योंकि मैजारिटी बच्चों की रूह-रूहान में स्नेह और सेवा के उमंग की लहरें विशेष थीं। प्रतिज्ञा और प्रत्यक्षता दोनों बातें विशेष थीं। सुनते-सुनते बापदादा क्या करते? सुनाने वाले कितने होते हैं लेकिन दिल का आवाज़ दिलाराम बाप एक ही समय में अनेकों का सुन सकते हैं। प्रतिज्ञा करने वालों को बापदादा बधाई देते। लेकिन सदा इस प्रतिज्ञा को अमृतवेले रिवाइज करते रहना। प्रतिज्ञा कर छोड़ नहीं देना। करना ही है, बनना ही है। इस उमंग-उत्साह को सदा साथ रखना। साथ-साथ कर्म करते हुए जैसे ट्रैफिक कन्ट्रोल की विधि द्वारा याद की स्थिति को लगातार बनाने में सफलता को पा रहे हो। ऐसे कर्म करते अपने प्रति अपने आपको चेक करने के लिए समय निश्चित करो। तो निश्चित समय प्रतिज्ञा को सफलता स्वरूप बनाता रहेगा।

प्रत्यक्षता के उमंग-उत्साह वाले बच्चों को बापदादा अपने राइट हैंड रूप से स्नेह की हैंडशेक कर रहे हैं। सदा मुरब्बी बच्चे सो बाप समान बन उमंग की हिम्मत से पदमगुणा बाप दादा की मदद के पात्र हैं ही हैं। सुपात्र अर्थात् पात्र हैं।

तीसरे प्रकार के बच्चे – दिन रात स्नेह में समाये हुए हैं। स्नेह को ही सेवा समझते हैं। मैदान पर नहीं आते लेकिन मेरा बाबा, मेरा बाबा यह गीत जरूर गाते हैं। बाप को भी मीठे रूप से रिझाते रहते हैं। जो हूँ, जैसी हूँ, आपकी हूँ। ऐसी भी विशेष स्नेही आत्मायें हैं। ऐसे स्नेही बच्चों को बापदादा स्नेह का रिर्टन स्नेह तो जरूर देते हैं लेकिन यह भी हिम्मत दिलाते हैं कि राज्य अधिकारी बनना है। राज्य में आने वाला बनना है – फिर तो स्नेही हो तो भी ठीक है। राज्य अधिकारी बनना है तो स्नेह के साथ पढ़ाई की शक्ति अर्थात् ज्ञान की शक्ति, सेवा की शक्ति, यह भी आवश्यक है इसलिए हिम्मत करो। बाप मददगार है ही। स्नेह के रिटर्न में सहयोग मिलना ही है। थोड़ी सी हिम्मत से, अटेन्शन से राज्य अधिकारी बन सकते हो। सुना – आज की रूहरूहान का रेसपान्ड? देश विदेश चारों ओर के बच्चों की वतन में रौनक देखी। विदेशी बच्चे भी लास्ट सो फास्ट जाकर फर्स्ट आने के उमंग-उत्साह में अच्छे बढ़ते जा रहे हैं। वह समझते हैं जितना विदेश के हिसाब से दूर हैं उतना ही दिल में समीप रहते हैं। तो आज भी अच्छे-अच्छे उमंग-उत्साह की रूह-रूहान कर रहे थे। कई बच्चे बड़े स्वीट हैं। बाप को भी मीठी-मीठी बातों से मनाते रहते हैं। कहते बड़ा भोले रूप से हैं लेकिन हैं चतुर। कहते हैं आप प्रामिस करो। ऐसे मनाते हैं। बाप क्या कहेंगे? खुश रहो, आबाद रहो, बढ़ते रहो। बातें तो बहुत लम्बी चौड़ी हैं, कितनी सुनाए कितनी सुनावें। लेकिन बातें सभी मजे से बड़ी अच्छी करते हैं। अच्छा –

सदा स्नेह और सेवा के उमंग-उत्साह में रहने वाले, सदा सुपात्र बन सर्व प्राप्तियों के पात्र बनने वाले, सदा स्वयं के कर्मों द्वारा बापदादा के श्रेष्ठ दिव्य कर्म प्रत्यक्ष करने वाले, अपने दिव्य जीवन द्वारा ब्रह्मा बाप की जीवन कहानी स्पष्ट करने वाले – ऐसे सर्व बापदादा के सदा साथी बच्चों को समर्थ बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

दादी जी तथा दादी जानकी जी बापदादा के सामने बैठी हैं।

आज तुम्हारी सखी (दीदी) ने भी खास यादप्यार दी है। आज वह भी वतन में इमर्ज थी इसलिए उनकी भी सभी को याद। वह भी (एडवांस पार्टी) में अपना संगठन मजबूत बना रहे हैं। उन्हों का कार्य भी आप लोगों के साथ-साथ प्रत्यक्ष होता जायेगा। अभी तो सम्बन्ध और देश के समीप हैं इसलिए छोटे-छोटे ग्रुप उन्हों में भी कारणें-अकारणें आपस में न जानते हुए भी मिलते रहते हैं। यह पूर्ण स्मृति नहीं है लेकिन यह बुद्धि में टचिंग है कि हमें मिलकर कोई नया कार्य करना है। जो दुनिया की हालते हैं, उसी प्रमाण जो कोई नहीं कर सकता है वह हमें मिलके करना है। इस टचिंग से आपस में मिलते जरूर हैं। लेकिन अभी कोई छोटे कोई बड़े, ऐसा ग्रुप है। लेकिन गये सभी प्रकार के हैं। कर्मणा वाले भी गये हैं, राज्य स्थापना करने की प्लैनिंग बुद्धि वाले भी गये हैं। साथ-साथ हिम्मत उल्लास बढ़ाने वाले भी गये हैं। आज पूरे ग्रुप में इन तीन प्रकार के बच्चे देखे और तीनों ही आवश्यक हैं। कोई प्लैनिंग वाले हैं, कोई कर्म में लाने वाले हैं और कोई हिम्मत बढ़ाने वाले हैं। ग्रुप तो अच्छा बन रहा है। लेकिन दोनों ग्रुप साथ-साथ प्रत्यक्ष होंगे। अभी प्रत्यक्षता की विशेषता बादलों के अन्दर है। बादल बिखर रहे हैं लेकिन हटे नहीं हैं। जितना-जितना शक्तिशाली मास्टर ज्ञान सूर्य की स्टेज पर पहुँच जाते हैं वैसे यह बादल बिखरते जा रहे हैं। मिट जायेंगे तो सेकण्ड में नगाड़ा बज जायेगा। अभी बिखर रहे हैं। वह भी पार्टी अपनी तैयारी खूब कर रही है। जैसे आप लोग यूथ रैली का प्लैन बना रहे हो ना, तो वह भी यूथ हैं अभी। वह भी आपस में बना रहे हैं। जैसे अभी भारत में अनेक पार्टियों की जो विशेषता थी वह कम हो फिर भी एक पार्टी आगे बढ़ रही है ना। तो बाहर की एकता का भी रहस्य है। अनेकता कमजोर हो रही है और एक शक्तिशाली हो रहे हैं। यह स्थापना के राज़ में सहयोग का पार्ट है। मन से मिले हुए नहीं है, मजबूरी से मिले हैं, लेकिन मजबूरी का मिलन भी रहस्य है। अभी स्थापना की गुह्य रीति रसम स्पष्ट होने का समय समीप आ रहा है। फिर आप लोगों को पता पड़ेगा कि एडवांस पार्टी क्या कर रही है और हम क्या कर रहे हैं। अभी आप भी क्वेश्चन करते हो कि वह क्या कर रहे हैं और वह भी क्वेश्चन करते हैं कि यह क्या कर रहे हैं। लेकिन दोनों ही ड्रामा अनुसार बढ़ रहे हैं।

जगदम्बा तो है ही चन्द्रमा। तो चन्द्रमा जगत अम्बा के साथ दीदी का शुरू से विशेष पार्ट रहा है। कार्य में साथ का पार्ट रहा है। वह चन्द्रमा (शीतल) है और वह तीव्र है। दोनों का मेल है। अभी थोड़ा बड़ा होने दो उसको, जगदम्बा तो अभी भी शीतलता की सकाश दे रही है लेकिन प्लैनिंग में, आगे आने में साथी भी चाहिए ना। पुष्पशान्ता और दीदी इन्हों का भी शुरू में आपस में हिसाब है। यहाँ भी दोनों का हिसाब आपस में समीप का है। भाऊ (विश्वकिशोर) तो बैकबोन है। इसमें भी पाण्डव बैकबोन हैं शक्तियाँ आगे हैं। तो वह भी उमंग-उत्साह में लाने वाले ग्रुप हैं। अभी प्लैनिंग करने वाले थोड़ा मैदान पर जायेंगे फिर प्रत्यक्षता होगी। अच्छा –

विदेशी भाई बहिनों से:- सभी लास्ट सो फास्ट जाने वाले और फर्स्ट आने के उमंग-उत्साह वाले हो ना। सेकण्ड नम्बर वाला तो कोई नहीं है। लक्ष्य शक्तिशाली है तो लक्षण भी स्वत: शक्तिशाली होंगे। सभी आगे बढ़ने में उमंग-उत्साह वाले हैं। बापदादा भी हर बच्चे को यही कहते कि सदा डबल लाइट बन उड़ती कला से नम्बरवन आना ही है। जैसे बाप ऊंचे ते ऊंचा है वैसे हर बच्चा भी ऊंचे ते ऊंचा है।

सदा उमंग-उत्साह के पंखों से उड़ने वाले ही उड़ती कला का अनुभव करते हैं। इस स्थिति में स्थित रहने का सहज साधन है – जो भी सेवा करते हो, वह बाप करनकरावनहार करा रहा है, मैं निमित्त हूँ कराने वाला करा रहा है, चला रहा है, इस स्मृति से सदा हल्के हो उड़ते रहेंगें। इसी स्थिति को सदा आगे बढ़ाते रहो।

विदाई के समय:- यह समर्थ दिन सदा समर्थ बनाता रहेगा। इस समर्थ दिन पर जो भी आये हो वह विशेष समर्थ भव का वरदान सदा साथ रखना। कोई भी ऐसी बात आये तो यह दिन और यह वरदान याद करना तो स्मृति समर्थी लायेगी। सेकण्ड में बुद्धि के विमान द्वारा मधुबन में पहुँच जाना। क्या था, कैसा था और क्या वरदान मिला था। सेकण्ड में मधुबन निवासी बनने से समर्थी आ जायेगी। मधुबन में पहुँचना तो आयेगा ना। यह तो सहज है, साकार में देखा है। परमधाम में जाना मुश्किल भी लगता हो, मधुबन में पहुँचना तो मुश्किल नहीं। तो सेकण्ड में बिना टिकट के, बिना खर्चे के मधुबन निवासी बन जाना। तो मधुबन सदा ही हिम्मत हुल्लास देता रहेगा। जैसे यहाँ सभी हिम्मत उल्लास में हो, किसी के पास कमजोरी नहीं है ना। तो यही स्मृति फिर समर्थ बना देगी। अच्छा!

वरदान:- परमात्म कार्य में सहयोगी बन सर्व का सहयोग प्राप्त करने वाले सफलता स्वरूप भव 
जहाँ सर्व का उमंग-उत्साह है, वहाँ सफलता स्वयं समीप आकर गले की माला बन जाती है। कोई भी विशाल कार्य में हर एक के सहयोग की अंगुली चाहिए। सेवा का चांस हर एक को है, कोई भी बहाना नहीं दे सकता कि मैं नहीं कर सकता, समय नहीं है। उठते-बैठते 10-10 मिनट भी सेवा करो। तबियत ठीक नहीं है तो घर बैठे करो। मन्सा से, सुख की वृत्ति, सुखमय स्थिति से सुखमय संसार बनाओ। परमात्म कार्य में सहयोगी बनो तो सर्व का सहयोग मिलेगा।
स्लोगन:- प्रकृतिपति की सीट पर सेट होकर रहो तो परिस्थितियों में अपसेट नहीं होंगे।

TODAY MURLI 25 AUGUST 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 25 August 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 24 August 2019:- Click Here

25/08/19
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
18/01/85

Revelation through a promise.

Today, on the day of power, the Powerful Father is seeing His powerful children. Today was the special day when Father Brahma gave the blessing of power to the special children. Today was the day when BapDada brought His Shakti Army onto the world stage, and so it is the day of the Shaktis playing their parts in a visible way in the corporeal form. Father Shiva is revealed through the Shaktis and He Himself continues to play His part in an incognito way. He reveals the Shaktis to the world as the visibly victorious ones. Today is the day when children receive from BapDada the blessing of being equal. Today is the day for the especially loving children to be merged in His eyes with their loving form. Today is the day when BapDada, through the sweet meeting with the especially powerful and loving children, gives the blessing of an imperishable meeting. Today is the day of the first thought of the heart of all the children everywhere of celebrating a sweet meeting at amrit vela, of singing very sweet songs of praise in the heart, of especially moving along in waves of love. Today, at amrit vela, in the garlands of the pearls of love of many children, with Baba in the middle of each pearl, Baba was seeing the words “Sweet Baba” sparkling. How many garlands were there? In this old world they speak of a necklace of nine jewels, but BapDada had with Him many necklaces of alokik, unique, invaluable jewels. You will not wear such necklaces even in the golden age. Only BapDada wears such necklaces given by the children – and only at this time. Today is the day for hearing heartfelt songs of separation and sweet songs full of love of the gopikas in many bondages. In return, BapDada gives the loving, long-lost and now-found souls, who remain absorbed in love, the good news that the drums of revelation are now going to beat. Therefore, o easy yogis and children who are deprived of a meeting, these few days are now coming to an end. The sweet meeting in the corporeal sweet home will definitely take place. That auspicious day is coming close.

Today is the day when every child attains the instant fruit of easy success by having a determined thought in their hearts. Did you hear how great today is? On such a great day, wherever all the children are, although they may be far away, they are close to the heart. In return for each child’s love and zeal and enthusiasm for doing service to reveal BapDada, BapDada gives love-filled greetings, because in the majority of the children, there were mostly waves of love and enthusiasm for doing service in their heart-to-heart conversations. There were two things: promises and revelation. What does BapDada do when He hears these? There are so many who are saying things, yet the Father, the Comforter of Hearts, is able to hear the sound of the heart of many at the same time. BapDada congratulates those who make promises. However, always continue to revise these promises at amrit vela. Once you have made the promise, don’t just leave it: “I have to do this. I have to become this.” Always keep this zeal and enthusiasm with you. Along with this, just as whilst doing things, you successfully continue to maintain your stage of remembrance with the method of traffic control, in the same way, whilst doing anything, also fix a time for checking yourself. In this way, the fixed time will continue to make your promise become a form of success.

BapDada is performing a handshake of love with His right hand children who have zeal and enthusiasm for revelation. By always being a specially beloved child who is equal to the Father, and with the courage of enthusiasm, you are constantly worthy of receiving multi-million fold help from BapDada. To be obedient (supatra) means to be worthy of receiving (patra).

The third type of children are those who are merged in love day and night. They consider love to be service. They don’t come onto the field, but they definitely sing the song, “My Baba, my Baba!” They cajole the Father very sweetly: Whatever I am, however I am, I am Yours. There are such loving souls too. To such loving children BapDada definitely gives love in return for love, and He also gives courage: You have to become those who have a right to the kingdom. You have to become those who will come into the kingdom. Then, if you are still only loving, that is also fine. If you want to claim a right to the kingdom, then, together with love and power from studying, that is, the power of knowledge, power from doing service is also essential. Therefore, have courage. The Father is always your Helper anyway. In return for your love, you will definitely receive co-operation. When you have a little courage and you pay attention, you can become one who has a right to the kingdom. Did you hear the response of today’s heart-to-heart conversation? Baba saw from the subtle region the splendour of all the children in this land and abroad. The foreign children who have come last are going fast and coming first by quickly moving forward with zeal and enthusiasm. They understand that to the extent they are far away by being abroad, so they are accordingly close to the heart. So, today, they were also having a chit-chat with very good zeal and enthusiasm. Some children are very sweet. They continue to try to please the Father with their sweet talk. They say these things very innocently, but they are very clever. They say: You should promise. This is how they to try to please Him. What would the Father say? May you remain happy! May you remain successful! May you continue to move forward! Things are very long and complicated. How many should He tell you about? However, all of you say very good things in a very entertaining way. Achcha.

To those who constantly have love and the zeal and enthusiasm to do service, to those who become worthy and thereby become worthy of receiving all attainments, to those who reveal BapDada’s elevated and divine acts through their own acts, to those who clearly show the life story of Father Brahma through their own divine lives, to all such constant, companion children of BapDada, love, remembrance and namaste from powerful BapDada.

BapDada meeting Dadiji and Dadi Janki who are sitting in front of BapDada:

Today, your friend Didi has sent special love and remembrance. Today, she too emerged in the subtle region. Therefore, she sent her remembrance to everyone. She is making her gathering (of the advance party) strong. Their task will also continue to be revealed with yours. They are now close in relationship and close by in the country and this is why they also continue to meet amongst themselves in small groups for one or another reason. They don’t have full awareness, but they do have a touching in their intellects that they have to get together and perform a new task. “According to the conditions of the world, what no one is able to do, we all have to do that together.” They definitely meet together with this touching. However, the group now is of some younger ones and some older ones. All types of children have gone: those who were keen on doing physical service have gone and those who had planning intellects for the establishment of the kingdom have gone. Together with those, the ones who increase courage and enthusiasm have also gone. Today, BapDada saw within the whole group, these three types of children and all three are needed. Some are those who do the planning, others are those who put things into practice and some are those who increase courage. A good group is being formed. However, both groups will be revealed simultaneously. Now the speciality of revelation is behind the clouds. The clouds are dispersing, but they haven’t moved away. To the extent that you reach the powerful stage of being a mastersun of knowledge, the clouds will continue to disperse. The second they are removed, the drums will beat. At the moment they are dispersing. That party is also making a lot of preparations. Just as you are making plans for the Youth Rally, so they too are youth at present. They too are planning amongst themselves. The speciality that Bharat had of having many (political) parties is now becoming less so and one party is moving ahead, is it not? So there is significance in the external unity too. Disunity is becoming weak and unity is becoming strong. This is the part of co-operation in the secret of establishment. They are not in harmony in their minds but out of compulsion, and meeting through compulsion is also significant. The time is now coming close for the deep systems and customs of establishment to become clear. All of you will then know what the advance party is doing and what you are doing. You are nowquestioning what they are doing and they are questioning what you are doing. Nevertheless, both of you are progressing according to the drama.

Jagadamba is the moon. So Didi has had a special part with Jagadamba, the moon, from the beginning. She has had the part of accompanying Mama in the task. That one is the moon (cool) and that one is intense. The two match. Now, just let her grow a little older. Jagadamba is even now giving the sakaash of coolness, but she also needs a companion in planning and making progress. Pushpa-Shanta and Didi have also had a connection between them from the beginning. Here, too, both have a close connection. Bhau (Dada Vishwa Kishor) is the backbone. Here too, the Pandavas are the backbone and the Shaktis are in the front. So that is also a group that brings about zeal and enthusiasm. Those who are to carry out the planning will now come onto the field a little and then revelation will take place. Achcha.

BapDada meeting double-foreign brothers and sisters:

All of you are those who have come last and are going fast and have the zeal and enthusiasm to come first, are you not? There isn’t anyone of the secondnumber. When the aim is powerful, the qualifications are automatically powerful. All of you are those who have the zeal and enthusiasm to move forward. BapDada says to each child: Constantly be doublelight and with your flying stage definitely claim number one. Just as the Father is the Highest on High, in the same way, each child is also the highest on high.

Only those who constantly fly with the wings of zeal and enthusiasm experience the flying stage. The easy way to remain stable in this stage is to consider Karankaravanhar Father is making you do whatever service you do. You are just an instrument and the One who has to get it done is making you do it and making you move. By keeping this in your awareness, you will remain constantly light and continue to fly. Constantly continue to increase this stage.

At the time of farewell:

This day of power will constantly continue to make you powerful. To those who have come on this day of power, always keep with you the special blessing of being powerful. When any situation arises, remember this day and this blessing for this awareness will bring power. Come to Madhuban in a second with the flying vehicle of your intellect and remember what you were, how you were and what blessing you received. By becoming a resident of Madhuban you will receive power in a second. You do know how to come to Madhuban, do you not? This is easy; you have seen it in the corporeal form. You might find it difficult to come to the supreme abode but it isn’t difficult to come to Madhuban. So, in a second, without a ticket and without any expense become a resident of Madhuban. Madhuban will constantly continue to give you zeal and enthusiasm. All of you here have zeal and enthusiasm and none of you have any weaknesses, do you? Similarly, this awareness will make you powerful.

Blessing: May you receive everyone’s co-operation and become an embodiment of success by co-operating in God’s task.
When there is everyone’s zeal and enthusiasm, success itself comes close and becomes a garland around your neck. Each one’s finger of co-operation is needed for any big task. Each one has a chance to serve, no one can make an excuse that they cannot do that or that they do not have time. While walking and moving around, do service if even for just 10 minutes. If your health isn’t good, then do service while sitting at home. With your mind, with your attitude of happiness and with your stage that gives happiness, create a world of happiness. Co-operate in God’s task and you will receive everyone’s co-operation.
Slogan: Remain set on the seat of being a lord of matter and you will not become upset about adverse situations.

 

*** Om Shanti ***

TODAY MURLI 25 AUGUST 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 25 August 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 24 August 2018 :- Click Here

25/08/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, to take an oath for purityis true Raksha Bandhan. Only once in a cycle does the Father tie this rakhi on you children.
Question: Why do those who make a promise to remain pure receive a signal to stay in yoga?
Answer: Because it is with the power of yoga that you can make the atmosphere peaceful. Yoga is the only method for you to give everyone in the whole world the inheritance of peace. You remember the Father in order to spread peace in the world. You will remain uninfluenced by Maya to the extent that you remember the Father. The Father’s order is: Children, be bodiless.
Song: O brother, fulfil the responsibility of the bond of this rakhi. 

Om shanti. The unlimited Father’s order to the children is: Remain bodiless, that is, have the faith that you are souls and consider yourselves to be separate from your sense organs. The body depends on the soul. When the soul leaves, the body is of no use and is therefore cremated. When the soul leaves, the body becomes a corpse, rubbish. When there is rubbish, it is said: Burn this rubbish. This body is useless without a soul. Therefore, I, the soul, am immortal. The body you each receive to play your part is mortal. When the soul leaves, the body is of no use; it begins to smell. A soul without a body remains in silence. The Father explains: The original religion of you souls is silence. You know that you souls in fact reside in the supreme abode. The Supreme Father, the Supreme Soul, also resides there. When there is sorrow, everyone remembers the Father and says: Free us from this sorrow. It is the soul that experiences happiness and sorrow. There are many sannyasis etc. who say that the soul is immune to action. However, this is not so. Alloy is mixed in souls. When pure gold has silver mixed into it, it changes from 24 carat gold to 22 carat gold. When impurities are mixed into real gold, the jewellery is said to be gold-plated. The soul is the important thing. The Supreme Father, the Supreme Soul, is the Father of souls. He comes at this time and says to His children: Now renounce the consciousness of your body. I am a soul and I am going to the Father. We are the Pandavas. This is the plan of the Pandavas. First, there are the Yadavas, the people of Europe, then the Kauravas and then there are these Pandavas. The Mahabharat War definitely took place after which there were cries of victory. This Raja Yoga is for the new world of heaven. There were cries of victory for the Pandavas and everyone else was destroyed. There are cries of victory in the golden age. The people of Bharat celebrate the Festival of Rakhi; they tie a rakhi. You children now know that rakhi is only tied once, through which you remain pure for 21 births. Therefore, the One who ties the rakhi is definitely needed at the end of the iron age. Who comes and ties this rakhi? Who inspires you to make this promise? The Father Himself and His children who are Brahmins. You are true Brahmins. It is brahmins who tie a rakhi. The system of a sister tying a rakhi on her brother is a false system. Elderly people remember that, earlier, a brahmin priest would come to tie a rakhi of thread. They never said that you have to remain pure. They don’t know what is meant by purity. Therefore, this festival of Rakhi must surely have its origins in the confluence age. How many years has it been? Five thousand years: the Father came at the confluence age and tied this rakhi and we remained pure from the beginning of the golden age to the end of the silver age. Then, this festival of Rakhi began on the path of devotion. People say that this festival has been celebrated from time immemorial, but that is not so. We only tie rakhi once in every 5000 years. Since you become impure from the copper age onwards, you tie a rakhi every year. Just as people burn Ravan every year, in the same way, they tie a rakhi every year. In fact, you are the ones who understand the meaning of this. The Father comes and says: Children, make a promise. Nothing happens simply by tying a rakhi. You have to take the oath: Baba, I will now remain pure. So, these festivals are fixed in the drama. There is no need to tie a rakhi in the golden and silver ages. That is the viceless world. Now it is your stage of ascent. Later you have to descend, and we will then become satopradhan deities again. You Brahmins say: We are now the children of God and we will then become deities. It is the Supreme Father, the Supreme Soul, who makes you into those. The incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, changes you from humans into deities. Human beings cannot make you into those. People have inserted the name of a human being. They have also depicted Krishna in the copper age. At the end of the iron age you become pure from impure. Then the golden age comes. If he were to come in the copper age, then his name should have disappeared in the iron age. However, that is wrong. Only when it is wrong does the Father come to put it right. Everyone is now false. Maya is false and the body is also false. The Father comes and makes the children true. No one tells lies in the golden and silver ages. Here, people commit sin and tell lies. Only the Father can transform sinful souls into pure, charitable souls. At the time of Deepmala, people settle their accounts for the whole year. Your account of sin of half the cycle is burnt away and you begin to accumulate an account of charity. It is only when you accumulate here that you will receive the fruit of it for 21 births. Only by remembering the Father will your sins be absolved. You must not commit any new sin. You each have to end your old account. Some tell the Father: Baba, I have committed such-and-such a sin. Achcha, half is forgiven. Even if you have committed sins in your childhood of this birth, by telling Baba, half the punishment will be cutaway. However, you still have to make effort for the other half. From your life story of this birth, one can also know about your previous birth, because a soul carries the sanskars with him and the stage of the soul can be understood. You understand that, day by day, your stage has been falling. The world continues to become tamopradhan and sins continue to increase. The Purifier Father now comes and ties a rakhi on you, that is, He makes you make a promise so that you become pure. ‘Time immemorial’ means that every 5000 years you have this true rakhi tied by the Father. Then this custom and system continues for half a cycle. There is great importance given to it. The foremost importance is given to the tying of rakhi. This festival is the main one. The highest festival of all is Shiv Jayanti. No one knows Him or when He comes or what he does when He comes. Everyone knows when Abraham, Buddha and Christ came. No one knows the history and geography of what existed before them in the golden and silver ages – how the kingdom of deities was established and how long it lasted. No one knows this. They say that Lakshmi and Narayan of the golden age were all-virtuous, 16 celestial degrees full and completely viceless. Lakshmi and Narayan were the empress and emperor. There has to be their childhood too. However, no one knows their childhood. Radhe and Krishna have been falsely shown in the copper age. All of that is the imagination of human beings. They have even elongated the duration of the golden age to hundreds of thousands of years; it cannot be that long. They themselves say that 3000 years before Christ there was definitely the kingdom of deities. In that case, how can they estimate the golden age to be so many years long? This is a simple thing, but Maya has turned everyone’s intellect to stone so that they have completely forgotten that they were deities. When the number one becomes Narayan, he doesn’t have this knowledge. Knowledge disappears. The Father says: I am now giving you the knowledge of becoming deities from human beings. What more can be taught once you become deities? There would be no need. You understand the meaning of the festival of Rakhi. All of these festivals also take place every year. A huge kumbh mela takes place where the ocean and the river meet. The meeting of the ocean and the Brahmaputra River is famous. The Father is the Ocean. This Brahmaputra is the first one to emerge from Him, and then there is gradually expansion. The meeting of the ocean and the Brahmaputra River can be clearly seen. There, (Rivers Ganges and Jamuna) they have a meeting of the rivers. There, it is clearly visible that one river has clean water and the other has dirty water. A mela takes place every year. Every year they go there to bathe in order to change from impure to pure. You are now at the confluence age. You have truly come and met the Ocean of Knowledge at this time. This is the beautiful meeting of the confluence age in which the meeting of souls with the Supreme Father, the Supreme Soul, takes place. You children know that all the religious festivals that are celebrated belong to this time. Today, it is the festival of Raksha Bandhan. Baba has brought a few rakhis with him. Now, Baba asks you: Whoever wants to have a rakhi tied by Shiv Baba, raise your hand. (At first only 2 to 4 raised their hands) Then Baba asked again: Raise your hand if you want a rakhi tied by Shiv Baba. (The majority raised their hands). BapDada said: Why? Have you not all become pure that you need to have a rakhi tied? BapDada then asked Mama. Mama replied: The rakhi has already been tied. Just look, Baba was testing you children and you all failed. Mama gave the correct answer. You are pure anyway. However, the rest depends on imbibing knowledge. You will continue to receive treasures. Continue to accumulate these treasures for as long as you live. You are pure, but, by staying in remembrance, you make the atmosphere peaceful. You are giving the inheritance of peace to the whole world. You make a promise of purity. You remember the Father in order to spread peace. You know that to whatever extent you remember the Father, you will accordingly not be influenced by Maya. Storms of Maya also come. The Father teaches you children to become trikaldarshi (seer of the three aspects of time). You understand the beginning, the middle and the end of the drama. Your forgetting is also fixed in the drama and this is why I have to come again and teach you children Raja Yoga. Although people celebrate Shiv Jayanti, they don’t know the meaning of it. Baba has brought a rakhi to class with him because a new child has come. This is taking the initiative: Baba, I am going to have a rakhi tied. Purity is first, and so why should I not become pure and claim my inheritance from the unlimited Father? The unlimited Father says: For half the cycle, you have been floundering in the gutter of poison. This is the depths of hell. You have been floundering for 63 births, so now make a promise: Baba, I too will go to the pure world and claim my inheritance of happiness. However, some do not have the courage. This is the Mansarovar Lake of knowledge. By bathing in this knowledge, human beings become angels of heaven. The people of Bharat create temples to Lakshmi and Narayan etc., but they don’t know when they came, and so that is blind faith. The Father has now come to make you children like Himself, master oceans of knowledge. A barrister teaches his pupils and makes them like himself. Then they all pass , numberwise, according to their efforts. Similarly this, too, is a study. The aim and objective has been clearly written. There is also the image of Shiv Baba. However, people don’t understand anything. They sing: O Purifier, Sita Ram! This is the community of Ravan. This is why the Father says: Examine your face and see if you have become 16 celestial degrees full, completely viceless. Do you have the faith that you are a soul? Who is the Father of you, the soul? If you don’t know Him, you are an atheist. In that case, how can you, an atheist, marry Lakshmi or Narayan? You understand that you definitely belonged to the community of monkeys and that you are now becoming worthy of marrying Shri Narayan. The Father says: I have come to liberate you from the kingdom of Maya, Ravan. Then, you will no longer need to burn an effigy of Ravan. This is something to be understood. The more effort you make, the better the inheritance you will claim. Baba can tell you what you will become according to your present efforts. Nowadays, the death of human beings is very cheap. There, when your lifespan ends, you will know straightaway that you have to shed that body and take a new one. When new souls come down, they are praised a great deal at first. Then the praise gradually decreases. Everyone has to pass through the stages of sato, rajo and tamo. Baba comes and makes you satopradhan. It is a wonder that five and a half billion souls have received their own imperishable parts which can never be destroyed. Souls are such tiny points and yet they have entire, imperishable parts contained within them. This is called the wonder of nature. New ones cannot understand these things. These are very deep matters. Shiva’s form has been shown in this way. If we were to change His form, people would say that our views are different from those of the rest of the world. You are now listening to new things for the new world. Then, after a cycle, it is you who will come to listen again. Therefore, the Father, the Purifier, made you make a promise and those who made this promise became the masters of heaven. This is why this festival is celebrated. You are true Brahmins. Saraswati has been remembered as the highest Brahmin. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. End your old account of sin and accumulate a new account of charity. Stay in remembrance and make the atmosphere peaceful.
  2. Make a promise to remain pure and tie a true rakhi on everyone to become pure.
Blessing: May you remain safe in all respects by remaining merged in the one Father’s love and become Maya-proof.
The children who remain merged in the one Father’s love easily remain distant from all the vibrations and atmosphere everywhere because to remain merged means to be powerful, the same as the Father, and to be safe in all respects. To remain absorbed means to be merged. Those who remain merged are Maya-proof. This is easy effort, but you must not become careless in the name of easy effort. The consciences of those who are careless effort-makers bite internally and externally, they sing songs of their own praise.
Slogan: Remain stable in the position of an ancestor and you will be liberated from the bondages of Maya and matter.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 25 AUGUST 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 25 August 2018

To Read Murli 24 August 2018 :- Click Here
25-08-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – पवित्र रहने की कसम लेना ही सच्चा रक्षाबंधन है, बाप कल्प में एक ही बार यह राखी तुम बच्चों को बांधते हैं”
प्रश्नः- पवित्रता की प्रतिज्ञा करने वालों को भी योग में रहने का इशारा क्यों मिलता है?
उत्तर:- क्योंकि योग की शक्ति से ही वायुमण्डल को शान्त बना सकते हो। सारी दुनिया को शान्ति का वर्सा देने का उपाय ही योग है। तुम बाप को याद करते हो – विश्व में शान्ति फैलाने के लिए। जितना बाप को याद करेंगे उतना माया का असर नहीं होगा। बाप का यही फ़रमान है – बच्चे, अशरीरी भव।
गीत:- भैया मेरे राखी के बंधन को निभाना…….. 

ओम् शान्ति। बेहद के बाप का बच्चों प्रति फ़रमान है कि अशरीरी होकर रहो अर्थात् अपने को आत्मा निश्चय कर इन कर्मेन्द्रियों से अपने को अलग समझो। यह शरीर डिपेन्ड करता ही है आत्मा के ऊपर। आत्मा अलग हो जाती है तो शरीर कोई काम की चीज़ नहीं रहता, जिसको फिर जलाया जाता है। जब आत्मा निकल जाती है तो जैसे मुर्दा, किचड़ा हो जाता। किचड़ा होता है तो कहते हैं कि इस किचड़े को जला दो। आत्मा बिगर यह शरीर काम का नहीं है। तो अहम् आत्मा इमार्टल है। यह शरीर जो पार्ट बजाने लिए मिलता है, यह विनाशी है। आत्मा निकल जाती है तो यह शरीर कोई काम का नहीं रहता। बदबू हो जाती है। शरीर के बिगर आत्मा साइलेन्स रहती है। बाप समझाते हैं तुम्हारी आत्मा का स्वधर्म है साइलेन्स। तुम जानते हो हम आत्मा वास्तव में परमधाम की रहने वाली हैं। परमपिता परमात्मा भी वहाँ रहते हैं। जब कोई दु:ख होता है तो बाप को याद करते हैं – मुझे इस दु:ख से छुड़ाओ। आत्मा ही सुख-दु:ख में आती है। बहुत सन्यासी आदि हैं जो कहते हैं आत्मा निर्लेप है परन्तु नहीं, आत्मा में ही खाद पड़ती है। सच्चे सोने में सिलवर पड़ती है तो सोना 24 कैरेट से 22 कैरेट बन जाता है। सच्चे सोने में खाद डाल देते हैं तो जेवर मुलम्मे का हो जाता है। आत्मा ही मुख्य है। आत्माओं का बाप है परमपिता परमात्मा। वही आकर इस समय बच्चों को कहते हैं अब शरीर का भान छोड़ दो। मैं आत्मा हूँ, बाप के पास जाता हूँ। हम हैं पाण्डव। पाण्डवों का प्लैन यह है। पहले यादव यूरोपवासी फिर कौरव और यह हैं पाण्डव। बरोबर महाभारी लड़ाई लगी और फिर जयजयकार हो गया। यह राजयोग है ही नई दुनिया स्वर्ग के लिए। पाण्डवों की जयजयकार हुई और सब ख़लास हो गये। जयजयकार होती ही है सतयुग में।

राखी का त्योहार भारतवासी मनाते हैं। राखी बांधते हैं। अभी यह बच्चे जानते हैं राखी एक ही बार बांधते हैं, जो फिर हम 21 जन्म पवित्र रहें। तो जरूर कलियुग अन्त में राखी बांधने वाला चाहिए। राखी कौन आकर बांधते हैं? कौन प्रतिज्ञा कराते हैं? स्वयं बाप और जो उनके वंशावली ब्राह्मण हैं। सच्चे-सच्चे ब्राह्मण तुम हो। ब्राह्मण ही राखी बांधते हैं। बहन भाई को बांधे – यह भी झूठी बनावट है। बुजुर्ग लोग जानते हैं – आगे ब्राह्मण ही आकर धागे की राखी बांधते थे। वह कोई ऐसे नहीं कहते कि तुमको पवित्र रहना है। पवित्रता को वह जानते ही नहीं। तो यह राखी उत्सव जरूर संगम पर हुआ है। कितना वर्ष हुआ? 5 हजार वर्ष। संगम पर बाप ने राखी बांधी फिर हम सतयुग-त्रेता अन्त तक पवित्र रहे फिर भक्ति मार्ग से यह राखी त्योहार शुरू हो गया। कहते हैं – यह उत्सव परम्परा से मनाते आये हैं। परन्तु ऐसे तो है नहीं। 5 हजार वर्ष में हम एक ही बार राखी बांधते हैं। जब द्वापर से पतित बनते हैं तो वर्ष-वर्ष राखी बांधते हैं क्योंकि अपवित्र बनते हैं। जैसे वर्ष-वर्ष रावण को भी जलाते हैं, वैसे वर्ष-वर्ष राखी भी बांधते हैं। वास्तव में इनका अर्थ तुम समझते हो। बाप आकर कहते हैं – बच्चे, प्रतिज्ञा करो। राखी बांधने से कुछ नहीं होता है। यह तो कसम उठाया जाता है कि – बाबा, हम अभी पवित्र रहेंगे। तो ड्रामा में इन उत्सवों की नूँध है। सतयुग-त्रेता में राखी बांधने की दरकार नहीं रहती। वह है ही वाइसलेस वर्ल्ड। इस समय अपनी है चढ़ती कला। फिर तो उतरना होता है। हम फिर सो सतोप्रधान देवता बनेंगे। ब्राह्मण कहते हैं हम अभी ईश्वर की सन्तान है फिर सो देवता बनते हैं। बनाने वाला है परमपिता परमात्मा। मनुष्य से देवता निराकार परमपिता परमात्मा बनाते हैं। मनुष्य नहीं बना सकते। उन्होंने मनुष्य का नाम डाल दिया है। कृष्ण को भी द्वापर में ले गये हैं। तुम पतित से पावन कलियुग अन्त में बनते हो। फिर सतयुग आना है। अगर द्वापर में आये तो फिर कलियुग का नाम गुम हो जाना चाहिए। यह रांग बात है, जब रांग हो तब तो बाप आकर राइट बनाये ना। अभी सब झूठे हैं। झूठी माया, झूठी काया……..। बाप आकर बच्चों को सच्चा बनाते हैं। सतयुग-त्रेता में कभी झूठ बोलते ही नहीं। यहाँ तो पाप करते झूठ बोलते रहते हैं। पाप आत्माओं को पुण्य आत्मा तो बाप ही बनायेंगे। जैसे दीपमाला पर सारे वर्ष का हिसाब-किताब चुक्तू करते हैं ना। तुम्हारा फिर आधाकल्प का जो पापों का खाता है वह भस्म होता है और पुण्य का खाता तुम जमा करते जाते हो। यहाँ ही जमा करेंगे तब 21 जन्म लिए फल मिलेगा। बाप को याद करने से ही विकर्म विनाश होंगे। नया कोई पाप नहीं करना चाहिए। पुराना खाता ख़लास करना है। बाप को बतलाते हैं कि बाबा हमसे यह पाप हुआ। अच्छा, आधा माफ है। इस जीवन में भी छोटेपन में पाप किया है तो वह बतलाने से आधा दण्ड कट जायेगा। बाकी आधा के लिए फिर भी मेहनत करनी पड़ेगी। इस जन्म की जीवन कहानी से आगे का भी पता पड़ जाता है क्योंकि संस्कार ले आते हैं ना। फिर उनकी अवस्था का पता पड़ जाता। यह तो समझते हैं दिन-प्रतिदिन नीचे ही गिरते आये हैं। दुनिया तमोप्रधान बनती जाती। पाप बढ़ते जाते हैं। फिर पतित-पावन बाप आकर राखी बांधते हैं अर्थात् प्रतिज्ञा कराते हैं तो तुम पवित्र बन जाते हो। परम्परा अर्थात् हर पांच हजार वर्ष बाद यह सच्ची-सच्ची राखी बाप से बंधवाते फिर उसकी रस्म-रिवाज आधा कल्प चलती है। उसका महत्व बहुत है। पहले-पहले महत्व है जो राखी बांधते हैं। उनका उत्सव है मुख्य। ऊंच ते ऊंच उत्सव है शिव जयन्ती, जिसका कोई को पता नहीं है कि वह कब आये, क्या आकर किया? इब्राहिम, बुद्ध, क्राइस्ट आदि कब आये यह तो सब जानते हैं ना। उनसे आगे सतयुग-त्रेता में क्या था – वह हिस्ट्री-जॉग्राफी कोई जानते नहीं। देवी-देवताओं की राजधानी कैसे स्थापन हुई, कितना समय चली – यह कोई जानते नहीं। मुख से कहते हैं – सतयुग के लक्ष्मी-नारायण सर्वगुण सम्पन्न, 16 कला सम्पूर्ण, सम्पूर्ण निर्विकारी थे। लक्ष्मी-नारायण तो हुए महाराजा-महारानी। उन्हों का बचपन भी चाहिए। बच्चों का किसको पता नहीं हैं। राधे-कृष्ण को फिर उल्टा द्वापर में ले जाते हैं। यह मनुष्यों की अपनी कल्पना है। सतयुग की आयु भी लाखों वर्ष लिख दी है, इतनी तो होनी नहीं चाहिए। खुद भी कहते हैं – 3 हजार वर्ष बिफोर क्राइस्ट बरोबर देवी-देवताओं का राज्य था। तो फिर सतयुग को इतने वर्ष क्यों देते हैं? सहज बात है ना। परन्तु माया पत्थरबुद्धि बना देती है जो बिल्कुल ही भूल जाते हैं कि हम देवी-देवता थे। नम्बरवन ही जब नारायण बनता तो उनको यह ज्ञान नहीं होता। ज्ञान प्राय:लोप हो जाता है। बाप कहते हैं अभी तुमको ज्ञान देता हूँ – मनुष्य से देवता बनाने का। देवता बन गये फिर क्या सिखलायेंगे? दरकार ही नहीं। तो राखी का उत्सव भी तुम जानते हो। यह सब उत्सव वर्ष-वर्ष होते हैं। कुम्भ का मेला, सागर-नदी का मेला भी बड़ा भारी लगता है। सागर और ब्रह्म पुत्रा नदी का मेला मशहूर है। सागर तो बाप है। उनसे पहले यह ब्रह्म पुत्रा निकली फिर वृद्धि होती जाती है। सागर और ब्रह्म पुत्रा का मेला देखने में आता है। वहाँ फिर है नदियों का मेला, उसमें भी साफ पानी और मैला पानी दिखाई पड़ता है। वहाँ भी हर वर्ष मेला लगता है। वर्ष-वर्ष जाकर पतित से पावन बनने स्नान करते हैं। अभी तुम संगमयुग पर हो। बरोबर इस समय तुम ज्ञान सागर से आकर मिले हो। यह है संगम का सुहावना समय जबकि आत्माओं का परमपिता परमात्मा से मिलन होता है।

तुम बच्चे जानते हो – जो भी पर्व मनाते हैं वह सब अभी के हैं। आज है रक्षाबन्धन। बाबा थोड़ी राखी भी ले आये हैं। अब बाबा पूछते हैं – किसको शिवबाबा से राखी बंधवानी है वह हाथ उठावें (पहले दो चार ने हाथ उठाया) फिर बाबा ने कहा – शिवबाबा से जिनको राखी बंधवानी हो वह हाथ उठावे। (मैजारिटी ने हाथ उठाया) बापदादा बोले – क्या तुम सब पावन नहीं बने हो जो राखी बंधवाते हो? फिर मम्मा से बापदादा ने पूछा तो मम्मा बोली राखी तो बांधी ही हुई है। देखो, बाबा ने बच्चों की परीक्षा ली तो सब फेल हो गये। मम्मा ने ठीक कहा। तुम तो पवित्र हो ही। बाकी ज्ञान की धारणा पर मदार है। खजाना तो मिलता ही रहेगा। जब तक जीते हो तब तक खजाना इकट्ठा करते रहो। पवित्र तो तुम हो परन्तु याद में रहने से तुम वायुमण्डल को शान्त बनाते हो। सारी दुनिया को शान्ति का वर्सा दे रहे हो। पवित्रता की ही प्रतिज्ञा की जाती है। बाप को याद करते हो – शान्ति फैलाने लिए। यह भी तुम जानते हो जितना बाप को याद करेंगे, माया का असर नहीं होगा। माया के तूफान भी आते हैं ना। बाप तुम बच्चों को पढ़ाकर त्रिकालदर्शी बना रहे हैं। ड्रामा के आदि-मध्य-अन्त को तुम जानते हो। तुम्हारा यह भूलना भी ड्रामा में है इसलिए फिर से मुझे आना पड़ता है – तुम बच्चों को राजयोग सिखलाने। शिव जयन्ती मनाते हैं परन्तु अर्थ नहीं समझते। बाबा ने राखी लाई थी क्योंकि एक बच्चा नया आया था। यह पान का बीड़ा उठाना होता है। बाबा हम राखी बंधवाते हैं। हम पवित्र बन क्यों नहीं बेहद के बाप से वर्सा लेंगे क्योंकि इसमें पवित्रता है फर्स्ट। बेहद का बाप कहते हैं आधा कल्प तुमने विषय गटर में बहुत गोते खाये हैं। यह है ही कुम्भी पाक नर्क। 63 जन्म गोते खाये हैं अब प्रतिज्ञा करो – बाबा, हम भी पवित्र दुनिया में चल सुख का वर्सा लूँगा। परन्तु हिम्मत नहीं देखते हैं। यह है ज्ञान मान सरोवर। इसमें ज्ञान स्नान करने से मनुष्य स्वर्ग की परी बन जाते हैं। भारतवासी लक्ष्मी-नारायण आदि के मन्दिर बनाते हैं परन्तु उनको पता थोड़ेही है कि वह कब आये थे, तो यह हुई अन्धश्रद्धा।

तुम बच्चों को अब बाप ने आप समान मास्टर ज्ञान सागर बनाया है। जैसे बैरिस्टर पढ़कर आप समान बनाते हैं, फिर नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार पास होते हैं। यह भी पढ़ाई है। एम ऑब्जेक्ट क्लीयर लिखा हुआ है। शिवबाबा का भी चित्र है। परन्तु समझते कुछ नहीं हैं। गाते हैं पतित-पावन सीताराम। यह है ही रावण सम्‍प्रदाय इसलिए बाप कहते हैं अपनी शक्ल देखो – 16 कला सम्पूर्ण, सम्पूर्ण निर्विकारी हो? अपने को आत्मा निश्चय करते हो? तुम्हारी आत्मा का बाप कौन है? उनको नहीं जानते तो तुम नास्तिक ठहरे। फिर नास्तिक लक्ष्मी को कैसे वरेंगे? तुम जानते हो बरोबर हम बन्दर सम्‍प्रदाय थे। अब हम श्री नारायण को वरने लायक बनते हैं। बाप कहते हैं मैं तुमको माया रावण के राज्य से लिबरेट करने आया हूँ। फिर रावण का बुत कभी जलायेंगे ही नहीं। यह समझने की बातें हैं। जितना पुरुषार्थ करेंगे उतना अच्छा वर्सा पायेंगे। बाबा बता सकते हैं – तुम इस समय के पुरुषार्थ अनुसार क्या बनेंगे? आजकल मनुष्यों की मौत तो बड़ी चीप (सस्ती) है। वहाँ तो समय पर आयु पूरी हुई झट मालूम पड़ेगा हमको यह चोला छोड़ दूसरा नया लेना है। नई-नई आत्मायें आती हैं तो पहले-पहले उन्हों की महिमा होती है, फिर कम हो जाती है। सतो, रजो, तमो से हरेक को पास करना पड़ता है। बाबा आकर सतोप्रधान बनाते हैं। यह भी वन्डर है। इतनी करोड़ आत्माओं को अपना अविनाशी पार्ट मिला हुआ है जो कभी विनाश नहीं हो सकता। आत्मा इतनी छोटी-सी बिन्दी है, उनमें सारा अविनाशी पार्ट भरा हुआ है, इसको कुदरत कहा जाता है। नया कोई इन बातों को समझ न सके। बड़ी गुह्य बातें हैं। शिव का रूप तो यही दिखाते हैं ना। अगर हम इनका रूप बदला दें तो कहें इनकी तो दुनिया से न्यारी बातें हैं। नई दुनिया के लिए नई बातें अभी तुम सुनते हो। फिर कल्प बाद भी तुम ही आकर सुनेंगे। तो पतित-पावन बाप ने प्रतिज्ञा कराई थी, जिन्हों ने यह प्रतिज्ञा की वही स्वर्ग के मालिक बनें इसलिए यह त्योहार मनाया जाता है। सच्चे-सच्चे ब्राह्मण तुम हो। सरस्वती ब्राह्मणी ऊंची गाई जाती है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) पुराने विकर्मों का खाता ख़लास कर पुण्य का खाता जमा करना है। याद में रह शान्ति का वायुमण्डल बनाना है।

2) पवित्रता की प्रतिज्ञा कर पवित्र रहने की सच्ची राखी हरेक को बांधनी है।

वरदान:- एक बाप के लव में लवलीन रह सर्व बातों से सेफ रहने वाले मायाप्रूफ भव
जो बच्चे एक बाप के लव में लवलीन रहते हैं वे सहज ही चारों ओर के वायब्रेशन से, वायुमण्डल से दूर रहते हैं क्योंकि लीन रहना अर्थात् बाप समान शक्तिशाली सर्व बातों से सेफ रहना। लीन रहना अर्थात् समाया हुआ रहना, जो समाये हुए हैं वही मायाप्रूफ हैं। यही है सहज पुरुषार्थ, लेकिन सहज पुरुषार्थ के नाम पर अलबेले नहीं बनना। अलबेले पुरुषार्थी का मन अन्दर से खाता है और बाहर से वह अपनी महिमा के गीत गाता है।
स्लोगन:- पूर्वज पन की पोजीशन पर स्थित रहो तो माया और प्रकृति के बन्धनों से मुक्त हो जायेंगे।

TODAY MURLI 25 August 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 25 August 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 24 August 2017 :- Click Here

BK murli today ~ 25/08/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली

 

25/08/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father has come to decorate you with the real decoration of knowledge and yoga. Body consciousness spoils this decoration. Therefore, remove your attachment from bodies.
Question: Who can climb the steep ladder of the path of knowledge?
Answer: Those who don’t have any attachment to their bodies or bodily beings, who have true love for only the one Father, who never become trapped in anyone’s name or form. Only such children are able to climb the steep ladder of the path of knowledge. All the desires of the children whose hearts have love for only the one Father are fulfilled. The illness of becoming trapped in name and form is very severe. Therefore, BapDada warnsyou: Children, don’t become trapped in one another’s name and form and thereby destroy your status.
Song: Having found You, we have found the whole world; the earth and sky all belong to us!

Om shanti. Sweetest children, you must now have understood the meaning of this song very well. Nevertheless, Baba tells you the meaning of each line. The mouths of you children can be opened in this way. The meaning is very easy. Now, only you children know the Father. Who are you? Brahmins. The whole world belongs to the clan of Shiva. He is now creating the new creation. You are personally in front of Him. You Brahmins know that you are claiming the sovereignty of the whole world from the unlimited Father through Brahma. Not just the sky, but the whole world below it and even the oceans and rivers are included in that. Baba, we are claiming the sovereignty of the whole world from You. We are making effort. We claim our inheritance from Baba every cycle. When we rule, it is the kingdom of the people of Bharat over the whole world. There isn’t anyone else at that time. There aren’t even those of the moon dynasty. There is just the kingdom of the sun-dynasty Lakshmi and Narayan. All the rest come later. Only at this time do you know this. There, you aren’t aware of any of this; you aren’t even aware of who it was you received your inheritance from. If you received it from someone, the question of how you received it would arise. It is only at this time that you have knowledge of the whole world cycle. It will then disappear. You know that the unlimited Father has now come. He is called the God of the Gita. On the path of devotion, they first listen to the Gita, the jewel of all scriptures. Connected to the Gita is the Bhagawad and also the Mahabharata. That devotion begins after a long time. Gradually, temples will be built and scriptures will be written; it takes 300 to 400 years. You are now listening personally to the Father. You know that the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiv Baba, has entered the body of Brahma. We have become Brahmins, His children, once again. In the golden age you aren’t aware that you will once again become the moon dynasty. The Father is now explaining to you the cycle of the whole world. The Father knows the beginning, the middle and the end of the whole world. He is called Janijananhar (One who knows everything) and k nowledge--full. No one knows what knowledge He has. They simply say that God, the Father, is knowledge-full. They believe that God knows what is inside each one’s heart. You know that you are now following shrimat. The Father says: Constantly remember Me alone. You have been remembering Him for half the cycle. You are now receiving knowledge and so you have stopped performing devotion. The day is the golden age and the night is the iron age. Your feet are towards hell and your face is towards heaven. You will go to your Parent’s home and then your in-laws’ home. Shiv Baba, the Beloved, comes here to decorate you because your decoration has been spoilt. When you become impure, your decoration is spoilt. Everyone has now become impure, sinful and degraded. You are now being changed from human beings into deities by the Father. From being without virtues, you are becoming virtuous. You know that by remembering the Father and by understanding this, you will not commit any sin. You will not eat anything tamopradhan. When people go on a pilgrimage they renounce something; some renounce aubergines and others renounce meat. Here, you donate the five vices. Body consciousness is the worst of all. You repeatedly have attachment to bodies. The Father says: Children, renounce your attachment to those bodies. When attachment to the body isn’t removed, there is also attachment to other bodily beings. The Father says: Children, have love for only the One. Don’t become trapped in the names and forms of others. Baba has also explained the meaning of the song to you. You are once again claiming the sovereignty of unlimited heaven from the unlimited Father. No one can snatch this sovereignty away from us. There isn’t anyone else there. How would they snatch it from us? You children now have to follow shrimat. Remember that by not following shrimat you will never be able to claim a high status. Shrimat definitely has to be received through the corporeal one. It cannot be received through inspiration. Some are arrogant in thinking that they receive inspiration from Shiv Baba. If it were a question of inspiration, why didn’t He give inspiration on the path of devotion to be Manmanabhav? Here, He has to enter a corporeal one to explain to us. How could He give us directions without the corporeal one? Many children sulk with Father Brahma and say: We belong to Shiv Baba anyway. You know that Shiv Baba makes you into Brahmins through Brahma. You first become His children and you then receive the understanding that you are receiving your Grandfather’s inheritance through this one. Dada (The Grandfather, Shiv Baba) makes us belong to Him through Brahma. He gives us teachings. (Song: By having love for Baba, all our desires are fulfilled.) There has to be very deep love. All of you souls have become lovers of the Father. In childhood, children love their father. If you remember Baba you receive your inheritance. As children become older, they continue to understand everything. All of you souls are children of the unlimited Father. You are claiming your inheritance from the Father. Consider yourselves to be souls and remember the Supreme Father, the Supreme Soul. When you become a lover of the Father, all your desires are fulfilled. Lovers remember their beloveds with one desire or another in their hearts. Children love their father for their inheritance. They remember their father and his property. That is a limited matter. Here, souls have to become lovers of the parlokik Beloved, the one who is everyone’s Beloved. You know that you are claiming the sovereignty of the world from Baba and that everything is included in that. There is no question of any partitions. There are no calamities in the golden and silver ages. There is no mention of sorrow there. This is the land of sorrow. This is why people make effort to become kings and queens, p residents and prime m inisters. There is numberwise status. Each one makes effort to claim a high status. In order to claim a high status in heaven, you have to follow Mama and Baba. Why should you not become heirs? Bharat is said to be the Mother and Fathercountry. They call it Mother Bharat. Therefore, there definitely has to be the Father as well; both are needed. Nowadays, they say, “Salutations to the mothers of Bharat” because Bharat is the imperishable land. It is here that the Supreme Father, the Supreme Soul, comes. Therefore, Bharat is the great pilgrimage place. So the whole of Bharat should be saluted. However, no one has this knowledge. It is pure ones who are saluted. The Father says: Salutations to the mothers. You are the Shiv Shaktis who made Bharat into heaven. Everyone has love for their birthplace. Therefore, the highest land is this Bharat where the Father comes and purifies everyone. It is only the one Father who makes impure ones pure. The land etc. doesn’t do anything. It is only the one Father who purifies everyone and He comes here. The praise of Bharat is very great. Bharat is the imperishable land; it is never destroyed. God comes in Bharat and enters a body who is then called ‘The Lucky Chariot’, Nandigan (the bull). Having heard the name ‘Nandigan’, they have put an animal there. You know that the Father enters the body of Brahma every cycle. In fact, you are the ones with the long locks of hair: you are the Raj Rishis. Rishis always remain pure. You are Raj Rishis and you also have to look after your home. You will gradually continue to become pure. Those people become pure instantly because they leave their homes and families. You have to live at home with your families and become pure: there is a difference. You know that you are sitting in this old world and claiming your inheritance of the new world. The Father says: Sweetest children, this study is for the future. You are making effort for the new world. Therefore, how much you should remember the Father! There are many who become trapped in one another’s name and form. They never remember Shiv Baba. They continue to remember those whom they love. They cannot climb this ladder. They are diseased with the disease of being trapped in name and form. Baba gives you a warning: By becoming trapped in the name and form of one another, you destroy your status. Although others may then benefit, you don’t benefit at all; you bring a loss to yourself. (The example of the pundit). There are many who become trapped in name and form and die. (Song.) You children now know that you have endured a lot of unhappiness for half the cycle. You have endured a lot of sorrow. That sorrow is now being removed and the mercury of happiness is rising. By seeing all of that sorrow, you have become completely tamopradhan. You now have the joy that your days of happiness are coming; you are going to the land of happiness. Your days of sorrow are now over. Therefore, you should make effort to claim a high status in the land of happiness. People study for happiness. You know that you are becoming the masters of the future world. You write to Baba: Baba, we will definitely claim our full inheritance from You. That is, we will claim a high status in the sun-dynasty kingdom. You have to have that complete faith in the effort you are making. (Song.) The lamp of hope for the happiness of heaven is now being ignited. When the lamp is extinguished, there is nothing but sorrow. God speaks: All your sorrow is going to be removed. Your days of much happiness are now about to come. You have to make effort and claim your full inheritance from the Father. Whatever you claim now, you can understand that you claim a right to that much inheritance every cycle. Each of you can understand to how many you are showing this path. Baba says: You have to become number one charitable souls in the sun dynasty. Become sticks for the blind! You should put up questionnaires on boards everywhere. You have to reveal the one Father; He is the Father of all. That Father creates Brahmins through Brahma. You will become deities from Brahmins. You were shudras and are now Brahmins. Brahmins are the topknot and then there are deities. It is the stage of ascent for you Brahmins. You Brahmins make Bharat into heaven. The feet and the topknot: when you do a somersault, the two come together. The Father explains to you so well. When destruction takes place, you will understand that your kingdom is established. You will then all shed your bodies and go to the land of immortality. This is the land of death. (Song.) Since when has there been love? This doesn’t mean that those who have had love for a long time will claim a high status and those who have only developed love now will claim a lower status; no. Everything depends on your efforts. It is seen that many new ones go ahead of the older ones because they see that very little time remains and so they start to make effort.

[wp_ad_camp_5]

 

You continue to receive very easy points. Give the Father’s introduction and ask: Who is the God of the Gita: Shiva or Krishna? That One is the Creator and this one is the creation. Therefore, surely the Creator would be called God. Prove to them that they have continued to come down by having sacrificial fires, doing tapasya and reading the scriptures etc. If you explain, saying that God speaks, no one will become angry. Devotion continues for half the cycle. Devotion is the night. There are the stages of ascent and descent. Everyone has to go into salvation via liberation. This has to be explained. When you explain in a very simple way, people feel very happy. Baba is making us become like that. The soul has now received wings. The soul that was heavy has become light. By renouncing the consciousness of your bodies, you become light. No matter how far you walk, if it is in remembrance of the Father, you will never feel tired. Baba shows you these methods. By renouncing the consciousness of your bodies, you continue to fly like the wind. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Never sulk out of body consciousness. Take directions from the Father through the corporeal one. Become true lovers of the one Beloved, God.
  2. While looking after your homes and families become Raj Rishis. Have the total desire to go to the land of happiness and have deep love for making effort to achieve that.
Blessing: May you be a holy swan who swims in the water of knowledge and flies in an elevated stage.
Just as a swan swims in water and also flies, similarly, you true children, you holy swans, know how to fly and how to swim. To churn knowledge means to swim in the nectar of knowledge or the water of knowledge and to fly means to stay in an elevated stage. The holy swans who churn knowledge and stay in an elevated stage can never be disheartened or feel hopeless. They put a full stop to the past, remain free from the web of “Why?” and “What”, and fly and continue to enable others to fly.
Slogan: Those who become jewels and sparkle in the centre of the Father’s forehead are the jewels of the forehead.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

Read Bk Murli 23 August 2017 :- Click Here

Brahma kumaris murli 25 August 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 25 August 2017

August 2017 Bk Murli :- Click Here

To Read Murli 24 August 2017 :- Click Here

BK murli today ~ 25/08/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली

 

25/08/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – बाप आये हैं तुम्हारा ज्ञान-योग से सच्चा श्रृंगार करने, इस श्रृंगार को बिगाड़ने वाला है देह-अभिमान, इसलिए देह से ममत्व निकाल देना है”
प्रश्नः- ज्ञान मार्ग की ऊंची सीढ़ी कौन चढ़ सकता है?
उत्तर:- जिनका अपनी देह में और किसी भी देहधारी में ममत्व नहीं है। एक बाप से दिल की सच्ची प्रीत है। किसी के भी नाम रूप में नहीं फँसते हैं, वही ज्ञान मार्ग की ऊंची सीढ़ी चढ़ सकते हैं। एक बाप से दिल की मुहब्बत रखने वाले बच्चों की सब आशायें पूरी हो जाती हैं। नाम-रूप में फँसने की बीमारी बहुत कड़ी है, इसलिए बापदादा वारनिंग देते हैं – बच्चे तुम एक दो के नाम-रूप में फँस अपना पद भ्रष्ट मत करो।
गीत:- तुम्हें पाके हमने…

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे बच्चे तो इस गीत के अर्थ को अच्छी तरह से जान गये होंगे। फिर भी बाबा एक-एक लाइन का अर्थ बताते हैं। इन द्वारा भी बच्चों का मुख खुल सकता है। बड़ा सहज अर्थ है। अब तुम बच्चे ही बाप को जानते हो। तुम कौन? ब्राह्मण ब्राह्मणियां। शिव वंशी तो सारी दुनिया है। अब नई रचना रच रहे हैं। तुम सम्मुख हो। तुम जानते हो बेहद के बाप से ब्रह्मा द्वारा हम ब्राह्मण ब्राह्मणियां सारे विश्व की बादशाही ले रहे हैं। आसमान तो क्या सारी धरती उनके बीच सागर नदियाँ भी आ गये। बाबा हम आपसे सारे विश्व की बादशाही ले रहे हैं। पुरूषार्थ कर रहे हैं। हम कल्प-कल्प बाबा से वर्सा लेते हैं। जब हम राज्य करते हैं तो सारे विश्व पर हम भारतवासियों का ही राज्य होता है और कोई भी नहीं होते। चन्द्रवंशी भी नहीं होते। सिर्फ सूर्यवंशी लक्ष्मी-नारायण का ही राज्य है। बाकी तो सब बाद में आते हैं। यह भी अभी तुम जानते हो। वहाँ तो यह कुछ भी पता नहीं रहता है। यह भी नहीं जानते कि हमने यह वर्सा किससे पाया? अगर किससे पाया तो फिर कैसे पाया, यह प्रश्न उठता है। सिर्फ यही समय है जबकि सारी सृष्टि चक्र की नॉलेज है, फिर यह गुम हो जायेगी। अभी तुम जानते हो कि बेहद का बाप आया हुआ है, जिनको गीता का भगवान कहा जाता है। भक्ति मार्ग में पहले सर्व शास्त्रमई शिरोमणी गीता ही सुनते हैं। गीता के साथ भागवत महाभारत भी है। यह भक्ति भी बहुत समय के बाद शुरू होती है। आहिस्ते-आहिस्ते मन्दिर बनेंगे, शास्त्र बनेंगे। 3-4 सौ वर्ष लग जाते हैं। अभी तुम बाप से सम्मुख सुनते हो। जानते हो परमपिता परमात्मा शिवबाबा ब्रह्मा तन में आये हैं। हम फिर से आकर उनके बच्चे ब्राह्मण बने हैं। सतयुग में यह नहीं जानते कि हम फिर चन्द्रवंशी बनेंगे। अभी बाप तुमको सारे सृष्टि का चक्र समझा रहे हैं। बाप सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त को जानते हैं। उनको कहा ही जाता है- जानी-जाननहार, नॉलेजफुल। किसकी नॉलेज है? यह कोई भी नहीं जानते। सिर्फ नाम रख दिया है कि गॉड फादर इज़ नॉलेजफुल। वह समझते हैं कि गॉड सभी के दिलों को जानने वाला है। अभी तुम जानते हो हम श्रीमत पर चलते हैं। बाप कहते हैं मामेकम् याद करो, जिसको तुम आधाकल्प से याद करते आये हो। अब तुमको ज्ञान मिलता है तो भक्ति छूट जाती है। दिन है सतयुग, रात है कलियुग। पांव नर्क तरफ, मुँह स्वर्ग तरफ है। पियरघर से होकर ससुरघर आयेंगे। यहाँ पिया शिवबाबा आते हैं श्रृंगार कराने क्योंकि श्रृंगार बिगड़ा हुआ है। पतित बनते तो श्रृंगार बिगड़ जाता है। अभी पतित पापी नींच बन पड़े हैं। अब बाप द्वारा तुम मनुष्य से देवता बन रहे हो। बेगुणी से गुणवान बन रहे हो। जानते हो बाप को याद करने और समझने से हम कोई भी पाप नहीं करेंगे। कोई तमोप्रधान चीज़ नहीं खायेंगे। मनुष्य तीर्थों पर जाते हैं तो कोई बैगन छोड़ आते हैं, कोई मास छोड़ आते हैं। यहाँ है 5 विकारों का दान क्योंकि देह-अभिमान सबसे बड़ा खराब है। घड़ी-घड़ी देह में ममत्व पड़ जाता है।

बाप कहते हैं – बच्चे इस देह से ममत्व छोड़ो। देह का ममत्व नहीं छूटने से फिर और और देहधारियों से ममत्व लग जाता है। बाप कहते हैं बच्चे एक से प्रीत रखो, औरों के नाम रूप में मत फँसो। बाबा ने गीत का अर्थ भी समझाया है। बेहद के बाप से फिर से बेहद के स्वर्ग की बादशाही ले रहे हैं। इस बादशाही को कोई हमसे छीन नहीं सकता। वहाँ दूसरा कोई है ही नहीं। छीनेंगे कैसे? अभी तुम बच्चों को श्रीमत पर चलना है। न चलने से याद रखना कि ऊंच पद कभी पा नहीं सकेंगे। श्रीमत भी जरूर साकार द्वारा ही लेनी पड़े। प्रेरणा से तो मिल नहीं सकती। कइयों को तो घमण्ड आ जाता है कि हम तो शिवबाबा की प्रेरणा से लेते हैं। अगर प्रेरणा की बात हो तो भक्ति मार्ग में भी क्यों नही प्रेरणा देते थे कि मनमनाभव। यहाँ तो साकार में आकर समझाना पड़ता है। साकार बिगर मत भी कैसे दे सकते। बहुत बच्चे बाप से रूठकर कहते हैं हम तो शिवबाबा के हैं। तुम जानते हो शिवबाबा ब्रह्मा द्वारा हमको ब्राह्मण बनाते हैं। पहले बच्चे बनते हैं ना, फिर समझ मिलती है कि हमको दादे का वर्सा मिल रहा है इन द्वारा। दादा (शिवबाबा) ही ब्रह्मा द्वारा हमको अपना बनाते हैं। शिक्षा देते हैं।

(गीत) बाबा से मुहब्बत रखने से हमारी सब आशायें पूरी होती हैं। मुहब्बत बड़ी अच्छी चाहिए। तुम सब आत्मायें आशिक बनी हो बाप की। छोटेपन में भी बच्चे बाप के आशिक बनते हैं। बाबा को याद करेंगे तो वर्सा मिलेगा। बच्चा बड़ा होता जायेगा, समझ में आता जायेगा। तुम भी बेहद के बाप के बच्चे आत्मायें हो। बाप से वर्सा ले रहे हो। अपने को आत्मा समझ परमपिता परमात्मा को याद करना पड़े। बाप के आशिक बनेंगे तो तुम्हारी सब आशायें पूरी हो जायेंगी। आशिक माशूक को याद करते हैं – कोई दिल में आश रखकर। बच्चा बाप पर आशिक बनता है वर्से के लिए। बाप और प्रापर्टी याद रहती है। अभी वह है हद की बात। यहाँ तो आत्मा को आशिक बनना है – पारलौकिक माशूक का, जो सभी का माशूक है। तुम जानते हो कि बाबा से हम विश्व की बादशाही लेते हैं, उसमें सब कुछ आ जाता है। पार्टीशन की कोई बात नहीं। सतयुग, त्रेता में कोई उपद्रव नहीं होते। दु:ख का नाम ही नहीं रहता। यह तो है ही दु:खधाम इसलिए मनुष्य पुरूषार्थ करते हैं – हम राजा रानी बनें। प्रेजीडेंट, प्राइम मिनिस्टर बनें। नम्बरवार दर्जे तो हैं ना। हर एक पुरूषार्थ करते हैं ऊंच पद पाने के लिए। स्वर्ग में भी ऊंच पद पाने के लिए मम्मा बाबा को फालो करना चाहिए। क्यों न हम वारिस बनें। भारत को ही मदर-फादर कन्ट्री कहा जाता है। उनको कहते हैं भारत माता। तो जरूर पिता भी चाहिए ना। तो दोनों चाहिए। आजकल वन्दे मातरम् भारत माता को कहते हैं क्योंकि भारत अविनाशी खण्ड है। यहाँ ही परमपिता परमात्मा आते हैं। तो भारत महान तीर्थ हुआ ना। तो सारे भारत की वन्दना करनी चाहिए। परन्तु यह ज्ञान कोई में है नहीं। वन्दना की जाती है पवित्र की। बाप कहते हैं वन्दे मातरम्। शिव शक्तियां तुम हो, जिन्होंने भारत को स्वर्ग बनाया है। हर एक को अपनी जन्म भूमि अच्छी लगती है ना। तो सबसे ऊंची भूमि यह भारत है, जहाँ बाप आकर सबको पावन बनाते हैं। पतितों को पावन बनाने वाला एक बाप ही है। बाकी धरनी आदि कुछ नहीं करती है। सबको पावन बनाने वाला एक बाप ही है जो यहाँ आते हैं। भारत की महिमा बहुत भारी है। भारत अविनाशी खण्ड है। यह कब विनाश नहीं होता। ईश्वर भारत में ही आकर शरीर में प्रवेश करते हैं, जिसको भागीरथ, नंदीगण भी कहते हैं। नंदीगण नाम सुन उन्होंने फिर जानवर रख दिया है। तुम जानते हो कल्प-कल्प बाप ब्रह्मा तन में आते हैं। वास्तव में जटायें तुमको हैं। राजऋषि तुम हो। ऋषि हमेशा पवित्र रहते हैं। राजऋषि हो, घरबार भी सम्भालना है। धीरे-धीरे पवित्र बनते जायेंगे। वह फट से बनते हैं क्योंकि वह घरबार छोड़कर जाते हैं। तुमको गृहस्थ व्यवहार में रहते पवित्र बनना है। फ़र्क हुआ ना। तुम जानते हो हम इस पुरानी दुनिया में बैठ नई दुनिया का वर्सा ले रहे हैं।

बाप कहते हैं मीठे-मीठे बच्चों, यह पढ़ाई भविष्य के लिए है। तुम नई दुनिया के लिए पुरूषार्थ कर रहे हो। तो बाप को कितना न याद करना चाहिए। बहुत हैं जो एक दो के नाम रूप में फँसते हैं। तो उनको शिवबाबा कभी याद नहीं पड़ेगा। जिससे प्यार करेंगे वह याद आता रहेगा। वह यह सीढ़ी चढ़ न सके। नाम रूप में फँसने की भी एक बीमारी लग जाती है। बाबा वारनिंग देते हैं एक दो के नाम रूप में फँस अपना पद भ्रष्ट कर रहे हो। औरों का कल्याण भल हो जाए परन्तु तुम्हारा कुछ भी कल्याण नहीं होगा। अपना अकल्याण कर बैठते हैं। (पण्डित का मिसाल) ऐसे बहुत हैं जो नाम रूप में फँस मरते हैं।

(गीत) अब तुम बच्चे जान गये हो कि आधाकल्प हमने दु:ख सहन किया है। गम सहन किये हैं। अभी वह निकल खुशी का पारा चढ़ता है। तुम गम देखते-देखते एकदम तमोप्रधान बन पड़े हो। अभी तुमको खुशी होती है-हमारे सुख के दिन आये हैं। सुखधाम में जा रहे हैं। दु:ख के दिन पूरे हुए। तो सुखधाम में ऊंच पद पाने का पुरूषार्थ करना चाहिए। मनुष्य पढ़ते हैं सुख के लिए। तुम जानते हो हम भविष्य विश्व के मालिक बन रहे हैं। पत्र में लिखते हैं बाबा हम आपसे पूरा वर्सा लेकर ही रहेंगे अर्थात् सूर्यवंशी राजधानी में हम ऊंच पद पायेंगे। पुरूषार्थ की सम्पूर्ण भावना रखनी है।

(गीत) अब सतयुग के तुम्हारे सुख की उम्मीदों के दीवे जग रहे हैं। दीवा बुझ जाता है तो दु:ख ही दु:ख हो जाता है। भगवानुवाच तुम्हारा सब दु:ख अब मिट जाने वाला है। अब तुम्हारे सुख के घनेरे दिन आ रहे हैं। पुरूषार्थ कर बाप से पूरा वर्सा लेना है। जितना अब लेंगे, इससे समझेंगे हम कल्प-कल्प यह वर्सा पाने के अधिकारी बनते हैं। हर एक समझते जायेंगे हम किसको यह रास्ता बताते हैं। बाबा कहते हैं पुण्य आत्मा नम्बरवन सूर्यवंशी में बनना है। अन्धों की लाठी बनना है। प्रश्नावली आदि बोर्ड पर जहाँ तहाँ लगाना चाहिए। एक बाप को सिद्ध करना है। वही सबका बाप है। वह बाप ब्रह्मा द्वारा ब्राह्मण रचते हैं। ब्राह्मण से तुम देवता बनेंगे। शूद्र थे, अभी हो ब्राह्मण। ब्राह्मण हैं चोटी, फिर हैं देवता। चढ़ती कला तुम ब्राह्मणों की है। तुम ब्राह्मण, ब्राह्मणियां भारत को स्वर्ग बनाते हो। पांव और चोटी, बाजोली खेलने से दोनों का संगम हो जाता है। कितना अच्छी रीति समझाते हैं। विनाश हुआ, तो समझेंगे हमारी राजधानी स्थापन हुई। फिर तुम सब शरीर छोड़ अमरलोक में जायेंगे। यह मृत्युलोक है।

[wp_ad_camp_5]

 

(गीत) जब से मुहब्बत हुई है। इसका यह मतलब नहीं कि पुरानी मुहब्बत वाले ऊंच पद पायेंगे और नई मुहब्बत वाले कम पद पायेंगे। नहीं, सारा मदार पुरूषार्थ पर है। देखा जाता है बहुत पुरानों से नये तीखे जाते हैं क्योंकि देखेंगे कि बाकी समय बिल्कुल थोड़ा है तो मेहनत करने लग पड़ते हैं। प्वाइंट्स भी सहज मिलती जाती हैं। बाप का परिचय दे समझायेंगे तो गीता का भगवान कौन – शिव वा कृष्ण? वह है रचयिता, वह है रचना। तो जरूर रचता को भगवान कहेंगे ना। तुम सिद्ध कर बतायेंगे यज्ञ जप तप शास्त्र आदि पढ़ते नीचे उतरते आये। भगवानुवाच कहकर समझायेंगे तो किसको गुस्सा नहीं लगेगा। आधाकल्प भक्ति चलती है। भक्ति है रात। उतरती कला, चढ़ती कला। सबको सद्गति में आना है वाया गति। यह समझाना पड़े। बिल्कुल सिम्पुल रीति समझाने से बहुत खुशी होगी। बाबा हमको ऐसा बनाते हैं। अभी आत्मा को पंख मिले हैं। आत्मा जो भारी है वह हल्की बन जाती है। देह का भान छूटने से तुम हल्के हो जायेंगे। बाप की याद में तुम कितना भी पैदल करते जायेंगे तो थकावट नहीं होगी। यह भी युक्तियां बतलाते हैं। शरीर का भान छूट जाने से हवा मिसल उड़ते रहेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) देह-अभिमान वश कभी रूठना नहीं है। साकार द्वारा बाप की मत लेनी है। एक परमात्मा माशुक का सच्चा आशिक बनना है।

2) घरबार सम्भालते राजऋषि बनकर रहना है। सुखधाम में जाने की पूरी उम्मीद रख पुरूषार्थ में सम्पूर्ण भावना रखनी है।

वरदान:- ज्ञान जल में तैरने और ऊंची स्थिति में उड़ने वाले होलीहंस भव 
जैसे हंस सदा पानी में तैरते भी हैं और उड़ने वाले भी होते हैं, ऐसे आप सच्चे होलीहंस बच्चे उड़ना और तैरना जानते हो। ज्ञान मनन करना अर्थात् ज्ञान अमृत वा ज्ञान जल में तैरना और उड़ना अर्थात् ऊंची स्थिति में रहना। ऐसे ज्ञान मनन करने वा ऊंची स्थिति में रहने वाले होलीहंस कभी भी दिलशिकस्त वा नाउम्मींद नहीं हो सकते। वह बीती को बिन्दी लगाए, क्या क्यों की जाल से मुक्त हो उड़ते और उड़ाते रहते हैं।
स्लोगन:- मणि बन बाप के मस्तक के बीच चमकने वाले ही मस्तकमणि हैं।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 23 August 2017 :- Click Here

Font Resize