24 october ki murli

TODAY MURLI 24 OCTOBER 2020 DAILY MURLI (English)

24/10/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are the true moths who now surrender to the Flame. Deepawali is the memorial of this surrender.
Question: What news does Baba tell His children?
Answer: Baba tells you souls how you come down from the land of nirvana and how He comes down. He says: I tell you who I am, what I do, how I establish the kingdom of Rama and how I enable you children to conquer Ravan. Now that you children understand all of these things, your lights are ignited.
Song: You are the Mother, You are the Father.

Om shanti. You sweetest, spiritual children heard the song. You souls heard the song with your physical senses. This song starts off correctly. Towards the end, there are words from the path of devotion, “I am the dust at Your feet”. Now, children cannot be the dust at anyone’s feet. That is wrong. The Father tells you children the right words. The Father comes from the same place that the children come from; it is from the land beyond sound (Nirvandham). Baba has given you children the news of how everyone comes. He has told you how He, Himself, comes and what He does when He comes. In order to establish the kingdom of Rama, He enables you to conquer Ravan. You children know that the kingdom of Rama and the kingdom of Ravan are said to be on this earth. You are now becoming the masters of the world. The earth, the sky and the sun will all be in your hands. So, it can be said that the kingdom of Rama is over the whole world and that the kingdom of Ravan is also over the whole world. There are billions of people in the kingdom of Ravan. There are very few in the kingdom of Rama; the population then gradually increases. The population increases very much in the kingdom of Ravan, because human beings become vicious. In the kingdom of Rama they are viceless. This is a story about human beings. Therefore, Rama is the Master of the unlimited and Ravan is also a master of the unlimited. There are now innumerable religions. It is said: “The destruction of innumerable religions.” Baba has also explained the picture of the tree to you. When people celebrate Dashera, they burn an effigy of Ravan. That is a limited burning. Your aspect is unlimited. It is only the people of Bharat who burn an effigy of Ravan. Abroad, too, they burn an effigy of Ravan, wherever there are many people from Bharat. That is a limited Dashera. They portray Ravan’s kingdom in Lanka. They say that he abducted Sita and took her to Lanka. That is a limited aspect. The Father says: Ravan’s kingdom exists over the whole world. The kingdom of Rama no longer exists. The kingdom of Rama means the kingdom established by God. The golden age is called the kingdom of Rama. People turn the beads of a rosary while chanting Rama’s name, but they do not remember King Rama at that time; it is the rosary beads of the One who serves the whole world that they turn. After Dashera, people then celebrate Deepawali. Why do they celebrate Deepawali? Because that is the coronation of the deities. They have many lights at the coronation. Firstly, there is the coronation. Second, they say that there should be Deepmala in every home. The light of every soul becomes ignited at that time. Now, the light of every soul is extinguished. They are ironaged, that is, they are all in the dark. Darkness means the path of devotion. By doing devotion, their lights were diminshed. That Deepmala is artificial. It isn’t that, because it is the coronation, they have fireworks, etc. They invoke Lakshmi at Deepmala; they worship her. That festival belongs to the path of devotion. They celebrate with a lot of splendour the coronation day of the king who sits on the throne. All of that is limited. There is now to be unlimited destruction – the true Dashera. The Father has come to ignite everyone’s light. People think that their lights will merge into the great light. The Brahm Samajis keep a light constantly lit in their temples. They believe that, just as a moth circles around a light and then sacrifices itself, so too, souls will merge into the great light. An example of that has been created. You have been lovers for half a cycle. You have now come and surrendered yourselves to the one Beloved. It is not a matter of getting burnt. Those lovers just love one another, whereas here, there is just the one Beloved and all the rest are lovers. On the path of devotion all the lovers remember that Beloved. They call out to that Beloved to come so that they can sacrifice themselves to Him. They say: We won’t remember anyone but You; it is not physical love. Those lovers have physical love. They simply continue to look at one another. They are very content just looking at one another. Here, there is just the one Beloved and all the rest are lovers. Everyone remembers the Father. Although some believe in nature,etc., the words “O God!” still emerge from their lips. Everyone calls out to Him: “Remove our sorrow!” On the path of devotion there are many lovers and many beloveds; some are lovers of one and others are lovers of someone else. How many lovers are there of Hanuman? All of them create a picture of their beloved and then sit together and worship that. They worship it and then sink their beloved in the sea. There is no meaning in that. There is nothing like that here. Here, your Beloved is everbeautiful; He never becomes ugly. The Father, the beautiful Traveller, comes and makes all of you beautiful. You too are all travellers, are you not? You come from the faraway land to play your parts here. Those of you who understand also understand numberwise, according to the efforts you make. You have now become trikaldarshi (knowers of the three aspects of time). You know the Creator and the beginning, the middle and the end of creation. Therefore, you have become trikaldarshi Brahma Kumars and Kumaris. Just as those people receive the title “Jagadguru” etc., so this is the title you receive. The best title that you receive is “swadarshanchakradhari”. Are only you Brahmins swadarshanchakradhari or is Shiv Baba also this? (Shiv Baba is also this). Yes. This is because a soul becomes swadarshanchakradhari when he is in a body. The Father enters this one and explains to you. If Shiv Baba were not Swadarshanchakradhari, how could He make you that? He is the Supreme, the highest-on-high soul. This is not said of the body. The Supreme Father comes and makes you supreme. No one, other than you souls, can become swadarshanchakradhari. Which souls? Those who belong to the Brahmin religion. You didn’t know this when you belonged to the shudra religion. It is only now that you come to know this from the Father. These are such good things! You are the ones who listen to this and become happy. If those from outside were to hear these things, they would be amazed. Oho! This knowledge is very elevated. Achcha, they too can become swadarshanchakradhari and become rulers of the globe, masters of the world. However, as soon as some leave here, everything is finished. Maya is so courageous! Whatever they hear here is left behind here. This is like a baby in the womb who makes a promise. As soon as he comes out, he forgets that promise. When you explain to people at the exhibitions, they say, “This is very good, this is very good.” They say that this knowledge is very good and that they will also make such effort and do this and that. Then, as soon as they leave, everything is left behind. All the same, they are affected by it a little. It isn’t that they won’t come to you again. The tree will continue to grow. Then, when the tree has grown, everyone will be pulled. This is now the extreme depths of hell. They have written such fearsome stories in the Garuda Purana. They tell these to human beings to make them have a little fear. It was from that that they got the idea of human beings becoming snakes and scorpions. The Father says: I remove you from the river of poison and send you to the ocean of milk. Originally, you were residents of the land of peace. You then went to the land of happiness to play your parts. You are now going to the land of peace and the land of happiness again. You remember these lands, do you not? People say, “You are the Mother and Father. It is from You that we receive a great deal of happiness.” However, that happiness exists in the golden age. It is now the confluence age. People here will cry out in distress a great deal at the end, because there will be extreme sorrow. Then, in the golden age, there will be extreme happiness. This is a predestined play about extreme happiness and extreme sorrow. They even show the incarnation of Vishnu. They show the couple, Lakshmi and Narayan, coming down from up above. However, it isn’t that bodily beings come from up above. Each soul comes from up above, but the incarnation of God is unique. It is He who comes and makes Bharat into heaven. People celebrate the festival of His anniversary, Shiv Jayanti. If they were to know that it is the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva, who gives the inheritance of liberation and liberation-in-life, they would celebrate the festival of God, the Father, throughout the whole world. If they understood that Shiv Baba is the Liberator and the Guide, they would celebrate the memorial of the unlimited Father. His birth takes place in Bharat. It is in Bharat that people celebrate Shiv Jayanti. However, because they don’t have full recognition of Him, they don’t even celebrate with a holiday. The birthday and pilgrimage of the Father who grants salvation to everyone should definitely be celebrated a lot in the land of His birth, where He comes and performs such a unique task. Your memorial, the temple, is also here. However, no one knows that it is Shiv Baba who comes and becomes the Liberator and the Guide. Everyone says, “Liberate us from all sorrow and take us to the land of happiness”, but they don’t understand anything. Bharat is the highest land of all. The praise of Bharat that is remembered is limitless. It is here that Shiv Baba takes birth, but no one accepts Him. They don’t make a stamp honouring Him. They make stamps honouring many others. Now, how can you explain, so that people understand the importance of this? Sannyasis go abroad and teach the ancient yoga of Bharat. When you tell them about your Raj Yoga, your name will be glorified. Ask them: Who taught Raj Yoga? No one knows. Krishna didn’t teach hatha yoga. Sannyasis practise hatha yoga; they study a great deal and call themselves philosophers. They should understand these things and reform themselves and say that, although they have studied many scriptures, what the Father is now saying is right and everything else is wrong. They should understand that this place where the Father comes is truly the greatest pilgrimage place. You children know that this land is called the land of righteousness. There aren’t as many righteous souls anywhere else as there are here. You give so many donations and perform so much charity. You recognize the Father and use your bodies, minds and wealth for this service. The Father alone liberates everyone. He liberates everyone from sorrow. None of the founders of religions liberate anyone from sorrow. Those people follow their founders down. They all come down to play their parts, numberwise. While playing their parts they become tamopradhan. Then the Father comes and makes you satopradhan. Therefore, Bharat is such a great pilgrimage place. Bharat is the number one and highest land. The Father says: This is My birthplace. I come here to grant everyone salvation. I make Bharat into heaven. You children know that the Father has come to make you into the masters of heaven. Therefore, remember such a Father with a great deal of love. When others see you, they too will perform such acts. This is known as subtle and divine acts. Don’t think that no one will understand anything. People will emerge who will take these pictures from you. You should make very good pictures, which they can carry away in the steamers. Then, they will put these pictures up wherever the steamers stop. You have to do a lot of service. Many generous people will emerge to fill your treasure-store. They will do such work for you that everyone will become aware of who it is who is transforming the old world and establishing the new world. Previously, you, too, had degraded intellects. You have now become those with very clean intellects. You know that you are making this world into heaven with this knowledge and the power of yoga. Everyone else will go and stay in the land of liberation. You also have to become authorities. You are children of the unlimited Father, are you not? You receive power by remembering Him. The Father is called the World Almighty Authority. He tells you the essence of all the Vedas and scriptures. Therefore, you children should have so much enthusiasm for doing service. Let nothing but jewels of knowledge emerge from your lips. Each of you is rup and basant. You will see how the whole world becomes very new and fresh again. Everything becomes new. There is no mention of sorrow there. Even the five elements remain on service for you. At the moment, they do disservice because human beings are not worthy. The Father is now making you worthy. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become rup and basant, so that only jewels of knowledge constantly emerge from your lips. Remain enthusiastic for doing service. Stay in remembrance and remind others of the Father. Perform this divine and unique task.
  2. Become a true lover and surrender yourself to the one Beloved, that is, sacrifice yourself. Only then will there be the true Deepawali.
Blessing: May you constantly be light and successful by looking after your physical household and your divine family equally.
All of you children have been given the double service of looking after your own physical livelihood and also your spiritual livelihood. However, there has to be equal time given and attention paid to both types of service. If the needle of shrimat is fine, both sides will then be equal. However, when you speak of your household, you become a householder and all the excuses then begin. So, have the awareness of being a trustee, not a householder and keep a balance of both your household and your divine family and you will remain constantly light and successful.
Slogan: In order to come in the first division, become a conqueror of your physical senses and also a conqueror of Maya.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 24 OCTOBER 2020 : AAJ KI MURLI

24-10-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम हो सच्चे-सच्चे परवाने जो अभी शमा पर फिदा होते हो, इस फिदा होने का ही यादगार यह दीपावली है”
प्रश्नः- बाबा ने अपने बच्चों को कौन-सा समाचार सुनाया है?
उत्तर:- बाबा ने सुनाया – तुम आत्मायें निर्वाणधाम से कैसे आती हो और मैं कैसे आता हूँ। मैं कौन हूँ, क्या करता हूँ, कैसे रामराज्य स्थापन करता हूँ, कैसे तुम बच्चों को रावण पर विजय पहनाता हूँ। अभी तुम बच्चे इन सब बातों को जानते हो। तुम्हारी ज्योति जगी हुई हैं।
गीत:- तुम्हीं हो माता पिता…….. 

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चों ने गीत सुना। आत्माओं ने इन जिस्मानी कर्मेन्द्रियों से गीत सुना। गीत में पहले तो ठीक था। पिछाड़ी को फिर भक्ति के अक्षर थे। तुम्हारे चरणों की धूल हैं। अब बच्चे चरणों की धूल थोड़ही होते हैं। यह रांग है। बाप बच्चों को राइट अक्षर समझाते हैं। बाप आते भी वहाँ से हैं जहाँ से बच्चे आते हैं, वह है निवार्णधाम। बच्चों को सबके आने का समाचार तो सुनाया। अपना भी सुनाया कि मैं कैसे आता हूँ, आकरके क्या करता हूँ। रामराज्य स्थापन करने अर्थ रावण पर विजय पह-नाते हैं। बच्चे जानते हैं – रामराज्य और रावणराज्य इस पृथ्वी पर ही कहेंगे। अभी तुम विश्व के मालिक बनते हो। धरती, आसमान, सूर्य आदि सब तुम्हारे हाथ आ जाते हैं। तो कहेंगे रावणराज्य सारे विश्व पर और रामराज्य भी सारे विश्व पर है। रावणराज्य में कितने करोड़ हैं, रामराज्य में थोड़े होते हैं फिर धीरे-धीरे वृद्धि को पाते हैं। रावणराज्य में वृद्धि बहुत होती है क्योंकि मनुष्य विकारी बन जाते हैं। रामराज्य में हैं निर्विकारी। मनुष्यों की ही कहानी है। तो राम भी बेहद का मालिक, रावण भी बेहद का मालिक है। अभी कितने अनेक धर्म हैं। गाया हुआ है अनेक धर्मों का विनाश। बाबा ने झाड़ पर भी समझाया है।

अब दशहरा मनाते हैं, रावण को जलाते हैं। यह है हद का जलाना। तुम्हारी तो है बेहद की बात। रावण को भी सिर्फ भारतवासी ही जलाते हैं, विदेश में भी जहाँ-जहाँ भारतवासी जास्ती होंगे वहाँ भी जलायेंगे। वह है हद का दशहरा। दिखाते हैं लंका में रावण राज्य करते थे, सीता को चुराकर लंका में ले गया। यह हो गई हद की बातें। अब बाप कहते हैं सारे विश्व पर रावण का राज्य है। रामराज्य अब नहीं है। रामराज्य अर्थात् ईश्वर का स्थापन किया हुआ। सतयुग को कहा जाता है रामराज्य। माला सिमरते हैं, रघुपति राघव राजाराम कहते हैं लेकिन राजाराम को नहीं सिमरते हैं, जो सारे विश्व की सेवा करते हैं, उनकी माला सिमरते हैं।

भारतवासी दशहरे के बाद फिर दीपावली मनाते हैं। दीपावली क्यों मनाते हैं? क्योंकि देवताओं की ताज-पोशी होती है। कारोनेशन पर बत्तियां आदि बहुत जलाते हैं। एक तो ताजपोशी दूसरा फिर कहा जाता है – घर-घर में दीपमाला। हर एक आत्मा की ज्योत जग जाती है। अभी सब आत्माओं की ज्योति उझाई हुई है। आइरन एजड है यानी अन्धियारा है। अन्धियारा माना भक्ति मार्ग। भक्ति करते-करते ज्योत कम हो जाती है। बाकी वह दीपमाला तो आर्टीफिशियल है। ऐसे नहीं कि कारोनेशन होता है तो आतिशबाजी जलाते हैं। दीपमाला पर लक्ष्मी को बुलाते हैं। पूजा करते हैं। यह उत्सव हैं भक्ति मार्ग के। जो भी राजा तख्त पर बैठते हैं तो उनका कारोनेशन डे धूमधाम से मनाया जाता है। यह सब हैं हद के। अभी तो बेहद का विनाश, सच्चा-सच्चा दशहरा होना है। बाप आये हैं सबकी ज्योत जगाने। मनुष्य समझते हैं हमारी ज्योत बड़ी ज्योत से मिल जायेगी। ब्रह्म समाजियों के मन्दिर में सदैव ज्योत जगती है। समझते हैं जैसे परवाने ज्योति पर फेरी पहन फिदा होते हैं वैसे हमारी भी आत्मा अब बड़ी ज्योति में मिल जायेगी। इस पर दृष्टान्त बनाया है। अभी तुम हो आधाकल्प के आशिक। तुम आकर एक माशूक पर फिदा हुए हो, जलने की तो बात नहीं। जैसे वह आशिक-माशूक होते हैं तो वह एक-दो के आशिक बन जाते हैं। यहाँ वह एक ही माशूक है, बाकी सब हैं आशिक। आशिक उस माशूक को भक्तिमार्ग में याद करते रहते हैं। माशूक आप आओ तो हम तुम्हारे पर बलि चढ़ें। तुम्हारे सिवाए हम किसको भी याद नहीं करेंगे। यह तुम्हारा जिस्मानी लव नहीं है। उन आशिक-माशूक का जिस्मानी लव होता है। बस एक-दो को देखते रहते हैं, देखने से ही जैसे तृप्त हो जाते हैं। यहाँ तो एक माशूक बाकी सब हैं आशिक। सब बाप को याद करते हैं। भल कोई नेचर आदि को भी मानते हैं। फिर भी ओ गॉड, हे भगवान मुख से जरूर निकलता है। सब उनको बुलाते हैं, हमारे दु:ख दूर करो। भक्तिमार्ग में तो बहुत आशिक-माशूक होते हैं, कोई किसका आशिक, कोई किसका आशिक। हनूमान के कितने आशिक होंगे? सब अपने-अपने माशूक के चित्र बनाकर फिर आपस में मिलकर बैठ उनकी पूजा करते हैं। पूजा कर फिर माशूक को डुबो देते हैं। अर्थ कुछ भी नहीं निकलता। यहाँ वह बात नहीं। यह तुम्हारा माशूक एवर गोरा है, कभी सांवरा बनता नहीं। बाप मुसाफिर आकर सबको गोरा बनाते हैं। तुम भी मुसाफिर हो ना। दूरदेश से आकर यहाँ पार्ट बजाते हो। तुम्हारे में भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार समझते हैं। अभी तुम त्रिकालदर्शी बन गये हो। रचता और रचना के आदि-मध्य-अन्त को जानते हो तो तुम हो गये त्रिकालदर्शी ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ। जैसे जगदगुरु आदि का भी टाइटिल मिलता है ना। तुमको यह टाइटिल मिलता है। तुमको सबसे अच्छा टाइटिल मिलता है स्वदर्शन चक्रधारी। तुम ब्राह्मण ही स्वदर्शन चक्रधारी हो या शिवबाबा भी है? (शिव-बाबा भी हैं) हाँ, क्योंकि स्वदर्शन चक्रधारी आत्मा होती है ना – शरीर के साथ। बाप भी इसमें आकर समझाते हैं। शिवबाबा स्वदर्शन चक्रधारी न हो तो तुमको कैसे बनाये। वह सबसे सुप्रीम ऊंच ते ऊंच आत्मा है। देह को थोड़ेही कहा जाता। वह सुप्रीम बाप ही आकर तुमको सुप्रीम बनाते हैं। स्वदर्शन चक्रधारी आत्माओं के सिवाए कोई बन न सके। कौन सी आत्मायें? जो ब्राह्मण धर्म में हैं। जब शूद्र धर्म में थे, तो नहीं जानते थे। अब बाप द्वारा तुमने जाना है। कितनी अच्छी-अच्छी बातें हैं। तुम ही सुनते हो और खुश होते हो। बाहर वाले यह सुनें तो आश्चर्य खायें, ओहो! यह तो बहुत ऊंच ज्ञान है। अच्छा तुम भी ऐसा स्वदर्शन चक्रधारी बनो तो फिर चक्रवर्ती राजा विश्व का मालिक बन जायेंगे। यहाँ से बाहर गये खलास। माया इतनी बहादुर है, यहाँ की यहाँ रही। जैसे गर्भ में बच्चा अन्ज़ाम (वायदा) कर निकलता है फिर भी वहाँ की वहाँ रह जाती है। तुम प्रदर्शनी आदि में समझाते हो, बहुत अच्छा-अच्छा करते हैं। नॉलेज बहुत अच्छी है, मैं ऐसा पुरूषार्थ करूँगा, यह करुँगा…..। बस बाहर निकला, वहाँ की वहाँ रही। परन्तु फिर भी कुछ न कुछ असर रहता है। ऐसे नहीं कि वह फिर आयेंगे नहीं। झाड़ की वृद्धि होती जायेगी। झाड़ वृद्धि को पायेगा तो फिर सबको खीचेंगे। अभी तो यह है रौरव नर्क। गरूड़ पुराण में भी ऐसी-ऐसी रोचक बातें लिखी हैं, जो मनुष्यों को सुनाते हैं ताकि कुछ डर रहे। उनसे ही निकला है कि मनुष्य सर्प बिच्छू आदि बनते हैं। बाप कहते हैं मैं तुमको विषय वैतरणी नदी से निकाल क्षीरसागर में भेज देता हूँ। असुल तुम शान्तिधाम के निवासी थे। फिर सुखधाम में पार्ट बजाने आये। अभी फिर हम जाते हैं शान्तिधाम और सुखधाम। यह धाम तो याद करेंगे ना। गाते भी हैं तुम मात-पिता…… वह सुख घनेरे तो होते ही हैं सतयुग में। अभी है संगम। यहाँ पिछाड़ी में त्राहि-त्राहि करेंगे क्योंकि अति दु:ख होता है। फिर सतयुग में अति सुख होगा। अति सुख और अति दु:ख का यह खेल बना हुआ है। विष्णु अवतार भी दिखाते हैं। लक्ष्मी-नारायण का जोड़ा जैसे ऊपर से आते हैं। अब ऊपर से शरीरधारी कोई आते थोड़ेही हैं। ऊपर से आती तो हर एक आत्मा है। परन्तु ईश्वर का अवतरण बहुत विचित्र है, वही आकर भारत को स्वर्ग बनाते हैं। उनका त्योहार शिवजयन्ती मनाते हैं। अगर मालूम होता कि परमपिता परमात्मा शिव ही मुक्ति-जीवन-मुक्ति का वर्सा देते हैं तो फिर सारे विश्व में गॉड फादर का त्योहार मनाते। बेहद के बाप का यादगार मनायें तब जब समझें कि शिवबाबा ही लिबरेटर, गाइड है। उनका जन्म ही भारत में होता है। शिव जयन्ती भी भारत में मनाते हैं। परन्तु पूरी पहचान नहीं तो हॉलीडे भी नहीं करते हैं। जो बाप सर्व की सद्गति करने वाला, उनकी जन्म भूमि जहाँ अलौकिक कर्तव्य आकर करते हैं, उनका जन्म दिन और तीर्थ यात्रा तो बहुत मनानी चाहिए। तुम्हारा यादगार मन्दिर भी यहाँ ही है। परन्तु किसको पता नहीं है कि शिवबाबा ही आकर लिबरेटर, गाइड बनता है। कहते सब हैं कि सब दु:खों से छुड़ाकर सुखधाम में ले चलो परन्तु समझते नहीं। भारत बहुत ऊंच ते ऊंच खण्ड है। भारत की महिमा अपरमअपार गाई हुई है। वहाँ ही शिवबाबा का जन्म होता है, उनको कोई मानते नहीं। स्टैम्प नहीं बनाते। औरों की तो बहुत बनाते रहते हैं। अब कैसे समझाया जाए जो इनके महत्व का सबको पता पड़े। विलायत में भी संन्यासी आदि जाकर भारत का प्राचीन योग सिखलाते हैं, जब तुम यह राजयोग बतायेंगे तो तुम्हारा बहुत नाम होगा। बोलो, राजयोग किसने सिखाया था, यह किसको पता नहीं है। कृष्ण ने भी हठयोग तो सिखाया नहीं। यह हठयोग है संन्यासियों का। जो बहुत अच्छे पढ़े-लिखे हैं जो अपने को फिलॉसाफर कहलाते हैं, वह इन बातों को समझ और सुधर जाएं, कहें हमने भी शास्त्र पढ़े हैं, परन्तु अब जो बाप सुनाते हैं वह राइट है। बाकी सब है रांग। तो यह भी समझें कि बरोबर बड़े से बड़ा तीर्थ स्थान यह है, जहाँ बाप आते हैं। तुम बच्चे जानते हो इसको कहा जाता है – धर्म भूमि। यहाँ जितने धर्मात्मा रहते हैं उतने और कहाँ नहीं। तुम कितना दान-पुण्य करते हो। बाप को जानकर, तन-मन-धन सब इस सेवा में लगा देते हो। बाप ही सबको लिबरेट करते हैं। सबको दु:ख से छुड़ाते हैं। और धर्म स्थापक कोई दु:ख से नहीं छुड़ाते हैं। वह तो आते ही हैं उनके पिछाड़ी। नम्बरवार सब पार्ट बजाने आते हैं। पार्ट बजाते-बजाते तमोप्रधान बन जाते हैं। फिर बाप आकर सतोप्रधान बनाते हैं। तो यह भारत कितना बड़ा तीर्थ है। भारत सबसे नम्बरवन ऊंच भूमि है। बाप कहते हैं मेरी यह जन्म भूमि है। मैं आकर सबकी सद्गति करता हूँ। भारत को हेविन बना देता हूँ।

तुम बच्चे जानते हो बाप स्वर्ग का मालिक बनाने आये हैं। ऐसे बाप को बहुत प्यार से याद करो। तुमको देख और भी ऐसे कर्म करेंगे। इसको ही कहा जाता है – अलौकिक दिव्य कर्म। ऐसे मत समझो कोई नहीं जानेंगे। ऐसे निकलेंगे जो तुम्हारे यह चित्र भी ले जायेंगे। अच्छे-अच्छे चित्र बनें तो स्टीमर भराकर ले जायेंगे। स्टीमर जहाँ-जहाँ खड़ा रहता है वहाँ यह चित्र लगा देंगे। तुम्हारी बहुत सर्विस होनी है। बहुत उदारचित हुण्डी भरने वाले सांवलशाह भी निकलेंगे जो ऐसे काम करने लग पड़ते हैं। ताकि सबको मालूम पड़े कि यह कौन है जो इस पुरानी दुनिया को बदल और नई दुनिया स्थापन करते हैं। तुम्हारी भी पहले तुच्छ बुद्धि थी, अभी तुम कितने स्वच्छ बुद्धि बने हो। जानते हो हम इस ज्ञान और योगबल से विश्व को हेविन बनाते हैं। बाकी सब मुक्तिधाम में चले जायेंगे। तुम्हें भी अथॉरिटी बनना है। बेहद के बाप के बच्चे हो ना। शक्ति मिलती है याद से। बाप को वर्ल्ड आलमाइटी अथॉरिटी कहा जाता है। सभी वेदों शास्त्रों का सार बताते हैं। तो बच्चों को कितना उमंग रहना चाहिए सर्विस का। मुख से ज्ञान रत्नों के सिवाए और कुछ न निकले। तुम हर एक रूप-बसन्त हो। तुम देखते हो सारी दुनिया सब्ज (हरी-भरी) बन जाती है। सब कुछ नया, वहाँ दु:ख का नाम नहीं। पांच तत्व भी तुम्हारी सर्विस में हाज़िर रहते हैं। अभी वह डिस-सर्विस करते हैं क्योंकि मनुष्य लायक नहीं हैं। बाप अभी लायक बनाते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) रूप-बसन्त बन मुख से सदैव ज्ञान रत्न ही निकालने हैं। सर्विस के उमंग में रहना है। याद में रहना और सबको बाप की याद दिलाना – यही दिव्य अलौकिक कार्य करना है।

2) सच्चा-सच्चा आशिक बन एक माशूक पर फिदा होना है अर्थात् बलि चढ़ना है, तभी सच्ची दीपावली होगी।

वरदान:- गृहस्थ व्यवहार और ईश्वरीय व्यवहार दोनों की समानता द्वारा सदा हल्के और सफल भव
सभी बच्चों को शरीर निर्वाह और आत्म निर्वाह की डबल सेवा मिली हुई है। लेकिन दोनों ही सेवाओं में समय का, शक्तियों का समान अटेन्शन चाहिए। यदि श्रीमत का कांटा ठीक है तो दोनों साइड समान होंगे। लेकिन गृहस्थ शब्द बोलते ही गृहस्थी बन जाते हो तो बहाने बाजी शुरू हो जाती है इसलिए गृहस्थी नहीं ट्रस्टी हैं, इस स्मृति से गृहस्थ व्यवहार और ईश्वरीय व्यवहार दोनों में समानता रखो तो सदा हल्के और सफल रहेंगे।
स्लोगन:- फर्स्ट डिवीजन में आने के लिए कर्मेन्द्रिय जीत, मायाजीत बनो।

TODAY MURLI 24 OCTOBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 24 October 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 23 October 2019:- Click Here

24/10/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, Baba has come to make you children renounce the land of sorrow. This is unlimited renunciation.
Question: What is the main difference between the renunciation of those sannyasis and your renunciation?
Answer: Those sannyasis leave their homes and families and go to the forests, but you do not leave your homes and families and go to the forests. Whilst living at home, you consider the whole world to be a forest of thorns. You renounce the whole world with your intellect.

Om shanti. The spiritual Father sits here and explains to you spiritual children every day. Because you have been senseless for half the cycle, He has to explain every day. First of all, human beings want peace. Souls are originally residents of the land of peace. The Father is always the Ocean of Peace. You are now receiving your inheritance of peace. People say: O Bestower of Peace, take us from this world to our home, the land of peace; that is, give us the inheritance of peace. People go and say in front of the deity idols and Shiv Baba, “Give us peace!” because Shiv Baba is the Ocean of Peace. You are now taking your inheritance of peace from Shiv Baba. You definitely have to go to the land of peace whilst remembering the Father. Even if you don’t remember Him, you will definitely go there. You remember Him so that the burdens of sins can be removed from your heads. You receive happiness and peace from the one Father because He is the Ocean of Peace and Happiness. This is the main thing. Peace is also called liberation. Then, there is liberation-in-life and also bondage-in-life. From being in bondage-in-life you are now becoming liberated-in-life. In the golden age, there are no bondages. It is remembered: Easy liberation-in-life and easy liberation and salvation. You children have understood the meaning of both. Liberation is the land of peace and salvation is the land of happiness. There is the land of happiness, the land of peace and this then is the land of sorrow. You are sitting here. The Father says: Children, remember the land of peace, your home. Souls have forgotten their home. The Father comes and reminds you of that. He explains: O spiritual children, you cannot go back home until you remember Me. Your sins will be burnt away by having remembrance. Souls will become pure and go back to their home. You children know that this is the impure world; there isn’t a single pure being here. The pure world is called the golden age and the impure world is called the iron age; the kingdom of Rama and the kingdom of Ravan. The impure world is established in Ravan’s kingdom. This is the predestined play. The unlimited Father explains this. He alone is called the Truth. Only at the confluence age do you listen to the true things and you then go to the golden age. Then, in the copper age, the kingdom of Ravan begins. Ravan is the devil, and the devil can never speak the truth. This is why it is said: Maya is false and the body is false. The soul is false and the body is also false. The sanskars are recorded in the soul. There are the four metals: gold, silver, copper and iron. All the alloy is removed with the power of this yoga and you become real gold. When you are in the golden age you are real gold. Then, when silver becomes mixed into you, you are called the moon dynasty. Then, in the copper and iron ages the alloys of copper and iron become mixed into you. The alloys of silver, copper and iron that became mixed into you are then removed with yoga. At first, all of you souls are in the land of peace and then you are the first ones to go to the golden age: that is called being goldenagedyou are real gold. All the alloy is removed with the power of yoga and only real gold is then left. The land of peace is not called the golden age. The golden, silver and copper ages are said to be here. In the land of peace, there is just peace. When souls first take bodies, they are called goldenaged and the world itself becomes the goldenage. At that time, bodies are made of the five satopradhan elements. When souls are satopradhan, the bodies too are satopradhan. Then, at the end, you receive iron-aged bodies because alloy is mixed into souls. So, it is this world that is called the golden and silver ages. So, what do you children now have to do? You first have to go to the land of peace and this is why you have to remember the Father, because only then will you become satopradhan from tamopradhan. This takes as much time as the Father stays here. He doesn’t take part in the golden age. When a soul receives a body, it is said: This one is a golden-aged human soul. It wouldn’t be said, “a golden-aged soul”. No, it is a golden-aged human soul, and it then becomes a silver-aged human soul. So, you are sitting here and you have peace and also happiness. So, what should you do? Renounce the land of sorrow. This is called unlimited renunciation. Those sannyasis who leave their homes and families and go to the forests have limited renunciation. They do not know that the whole world is a forest. This is the forest of thorns. This is the world of thorns and that is the world of flowers. Although they renounce everything, they still go and live in the forests, far from the cities, in the world of thorns. Theirs is the path of isolation whereas yours is the family path. You were pure couples and you have now become impure couples. That is also called a family ashram. Sannyasis come later. Those of Islam and the Buddhists also come later. They come a little earlier than the Christians. So, you have to remember this tree and also the cycle. The Father comes every cycle and gives you the knowledge of the kalpa tree because He Himself is the Seed, the Truth and the Sentient Being. This is why He comes every cycle and explains to us all the secrets of the kalpa tree. You are souls, but you wouldn’t be called oceans of knowledge, oceans of peace or oceans of happiness. This praise belongs to only the one Father who makes you like that. This praise of the Father is for all time. He is always pure and incorporeal. He simply comes here for a short time to purify you. There is no question of omnipresence. You know that the Father always resides there. People on the path of devotion always remember Him. In the golden age, there is no need to remember Him. You begin to cry out in the kingdom of Ravan. He alone then comes and gives you peace and happiness. So, you definitely remember Him at times of peacelessness. The Father explains: I come every 5000 years. For half the cycle, there is happiness and for half the cycle, there is sorrow. It is only after half the cycle has passed that the kingdom of Ravan begins. The first number, the root of all vices, is body consciousness. Only after that do all the other vices come. The Father now explains: Consider yourselves to be souls and become soul conscious. Recognition of souls is needed. People simply say: A soul sparkles in the centre of the forehead. You now understand that that is the immortal image. This body is the throne of the soul, the immortal image. The soul sits in the forehead. This is the throne of the immortal image. All are living, immortal thrones; not the wooden, immortal throne that people have made in Amritsar. The Father has explained: All human beings have their own immortal thrones. A soul comes and resides here. Whether it is the golden age or the iron age, it is these human bodies that are the throne for souls. So, there are so many immortal thrones. All human beings are the thrones of the immortal souls. A soul leaves one throne and immediately takes another. First of all, the throne is small and then it grows larger. This body, the throne, becomes small and large, but the wooden throne that the Sikhs call “The Immortal Throne” cannot become larger or smaller. No one knows that the foreheads are the immortal thrones of all human beings. Souls are immortal and are never destroyed. Souls receive different thrones. In the golden age, each of you receives a very first-class throne, which is called a golden-aged throne. Then, you souls receive silver, copperand then iron-aged thrones. So, if you want a golden-aged throne, you definitely do have to become pure. Therefore, the Father says: Constantly remember Me alone and the alloy in you will be removed. You will then receive deity thrones. You now have thrones of the Brahmin clan. You souls have the thrones of the most auspicious confluence age and you will then receive deity thrones. People of the world do not know these things. It is only after becoming body conscious that people continue to cause sorrow for one another. That is why this is called the land of sorrow. The Father now explains to you children: Remember the land of peace which is your real place of residence. Remember the land of happiness and continue to forget this land of sorrow. Let there be disinterest in this. It isn’t that you have to renounce your home and family like the sannyasis do. The Father explains: On the one hand, that is good but, on the other hand, it is bad. Everything of yours is good. Their hatha yoga is good and also bad because, when the deities go on to the path of sin, purity is definitely needed to support Bharat. So, they help in that too. Bharat alone is the imperishable land. It is here that the Father comes. So, the place where the unlimited Father comes is the greatest pilgrimage place of all. Only the Father comes and grants salvation to everyone. This is why only Bharat is the highest-on-high land. The main thing that the Father explains is: Children, stay on the pilgrimage of remembrance. The word “Manmanabhav” is also mentioned in the Gita, but the Father does not explain anything in Sanskrit. The Father tells you the meaning of “Manmanabhav”: Renounce all bodily religions and have the faith that you are souls. Souls are imperishable and never become larger or smaller. They have imperishable parts recorded in them. The drama is predestined. Souls who come later have very small parts. For the rest of the time, they live in the land of peace. They cannot go to heaven. Those who come later experience a little happiness and a little sorrow. Just as on Diwali so many mosquitoes emerge, and you will see in the morning that all the mosquitoes are dead, so it is the same for human beings. What value would those who come later have? It is just like the life of animals. So, the Father explains how this world cycle turns and how the human world tree becomes big from small and small from big. In the golden age, there are very few human beings, whereas in the iron age, there is so much growth and the tree becomes big. The main thing that the Father has given a signal for is: Whilst living at home with your family, constantly remember Me alone. Practise staying in remembrance for eight hours. By having remembrance, you will eventually become pure and go to the Father and also receive a scholarship. If any sins are left, another birth will have to be taken here. Punishment is experienced and the status is reduced. Everyone has to settle their karmic accounts. All human beings continue to take birth even now. At this time, you can see that the population of Christians is larger than that of the people of Bharat. They are also sensible. The people of Bharat were 100% sensible, but they have now become non-sensible, because they are the ones who receive 100% happiness and then they are the ones who receive 100% sorrow. The others come later. The Father has explained what the connection is between the Christian dynasty and the Krishna dynasty. The Christians took away your kingdom and you will get it back from the Christian dynasty. At this time, the Christians are stronger. They are receiving help from Bharat. Bharat is now starving and so return service is taking place. They took back a lot of wealth, diamonds and jewels from here. They became very wealthy and so they continue to send that wealth back. They are not going to receive anything. No one recognises you children now. If they were to recognise you, they would come and take advice from you. You are the Godly community who follow God’s advice. You are the ones who will change from the Godly community to the deity community. Then, you will become the warrior, merchant and shudra communities. At this time, we are Brahmins and we will then become deities and then warriors. Look how good the meaning of “hum so” is. This is the game of somersaulting and it is very easy to understand, but Maya makes you forget and then from being full of divine virtues, she makes you full of devilish traits. To become impure is a devilish trait. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to receive a scholarship, practise remembering the Father for at least eight hours whilst living at home with your family. Only by having the practice of remembrance will your sins be cut away and will you receive a golden-aged throne.
  2. Have unlimited disinterest in this land of sorrow and remember your original place of residence: the lands of peace and happiness. Do not become body conscious and thereby cause anyone sorrow.
Blessing: May you be a spiritual lover who is attracted by the attraction of the Spiritual Beloved and thereby remains free from having to work hard.
The Beloved is pleased to see His lovers who were lost. They were attracted by the spiritual attraction and they now know their true Beloved; they have attained Him and have reached their true destination. When such lover souls come inside this boundary of love, they are liberated from many types of hard work because the waves of love and power here of the Ocean of Knowledge refresh them for all time. The Beloved has specially created this special place for the entertainment of you lovers and for meeting Him.
Slogan: Along with being introverted, also be economical and belong to the One.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 24 OCTOBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 24 October 2019

To Read Murli 23 October 2019:- Click Here
24-10-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाबा आया है तुम बच्चों से दु:खधाम का सन्यास कराने, यही है बेहद का सन्यास”
प्रश्नः- उन सन्यासियों के सन्यास में और तुम्हारे सन्यास में मुख्य अन्तर क्या है?
उत्तर:- वे सन्यासी घरबार छोड़कर जंगल में जाते लेकिन तुम घरबार छोड़कर जंगल में नहीं जाते हो। घर में रहते हुए सारी दुनिया को कांटों का जंगल समझते हो। तुम बुद्धि से सारी दुनिया का सन्यास करते हो।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप बैठ रूहानी बच्चों को रोज़-रोज़ समझाते हैं क्योंकि आधाकल्प के बेसमझ हैं ना। तो रोज़-रोज़ समझाना पड़ता है। पहले-पहले तो मनुष्यों को शान्ति चाहिए। आत्मायें सब असुल रहने वाली भी शान्तिधाम की हैं। बाप तो है ही सदैव शान्ति का सागर। अभी तुम शान्ति का वर्सा प्राप्त कर रहे हो। कहते हैं ना शान्ति देवा…… अर्थात् हमको इस सृष्टि से अपने घर शान्तिधाम में ले जाओ अथवा शान्ति का वर्सा दो। देवताओं के आगे अथवा शिवबाबा के आगे यह जाकर कहते हैं कि शान्ति दो क्योंकि शिवबाबा है शान्ति का सागर। अभी तुम शिवबाबा से शान्ति का वर्सा ले रहे हो। बाप को याद करते-करते तुमको शान्ति-धाम में जाना है जरूर। नहीं याद करेंगे तो भी जायेंगे जरूर। याद इसलिए करते हो कि पापों का बोझा जो सिर पर है वह खत्म हो जाए। शान्ति और सुख मिलता है एक बाप से, क्योंकि वह सुख और शान्ति का सागर है। वह चीज़ ही मुख्य है। शान्ति को मुक्ति भी कहा जाता है और फिर जीवनमुक्ति और जीवन बन्ध भी है। अभी तुम जीवनबन्ध से जीवनमुक्त हो रहे हो। सतयुग में कोई बन्धन नहीं होता है। गाया भी जाता है सहज जीवनमुक्ति वा सहज गति-सद्गति। अब दोनों का अर्थ तुम बच्चों ने समझा है। गति कहा जाता है शान्तिधाम को, सद्गति कहा जाता है सुखधाम को। सुखधाम, शान्तिधाम फिर यह है दु:खधाम। तुम यहाँ बैठे हो, बाप कहते हैं – बच्चे, शान्तिधाम घर को याद करो। आत्माओं को अपना घर भूला हुआ है। बाप आकर याद दिलाते हैं। समझाते हैं हे रूहानी बच्चों तुम घर जा नहीं सकते हो जब तक मुझे याद नहीं करेंगे। याद से तुम्हारे पाप भस्म हो जायेंगे। आत्मा पवित्र बन फिर अपने घर जायेगी। तुम बच्चे जानते हो यह अप-वित्र दुनिया है। एक भी पवित्र मनुष्य नहीं। पवित्र दुनिया को सतयुग, अपवित्र दुनिया को कलियुग कहा जाता है। राम राज्य और रावण राज्य। रावण राज्य से अपवित्र दुनिया स्थापन होती है। यह बना-बनाया खेल है ना। यह बेहद का बाप समझाते हैं, उनको ही सत्य कहा जाता है। सत्य बातें तुम संगम पर ही सुनते हो फिर तुम सतयुग में जाते हो। द्वापर से फिर रावण राज्य शुरू होता है। रावण अर्थात् असुर ठहरा, असुर कभी सत्य नहीं बोल सकते इसलिए इसको कहा जाता है झूठी माया, झूठी काया। आत्मा भी झूठी है तो शरीर भी झूठा है। आत्मा में संस्कार भरते हैं ना। 4 धातुएं हैं ना – सोना-चांदी-तांबा-लोहा…… सब खाद निकल जाती है। बाकी सच्चा सोना तुम बनते हो इस योगबल से। तुम जब सतयुग में हो तो सच्चा सोना ही हो। फिर चांदी पड़ती है तो चन्द्रवंशी कहा जाता है। फिर तांबे की, लोहे की खाद पड़ती है द्वापर-कलियुग में। फिर योग से तुम्हारे में जो चांदी, तांबा, लोहा की खाद पड़ी है, वह निकल जाती है। पहले तो तुम सब आत्मायें शान्तिधाम में हो फिर पहले-पहले आते हो सतयुग में, तो उसको कहा जाता है गोल्डन एजड। तुम सच्चा सोना हो। योगबल से सारी खाद निकलकर बाकी सच्चा सोना बचता है। शान्तिधाम को गोल्डन एज नहीं कहा जाता है। गोल्डन एज, सिलवर एज, कापर एज यहाँ कहा जाता है। शान्तिधाम में तो शान्ति है। आत्मा जब शरीर लेती है तब गोल्डन एजड कहा जाता है फिर सृष्टि ही गोल्डन एज बन जाती है। सतोप्रधान 5 तत्वों से शरीर बनता है। आत्मा सतोप्रधान है तो शरीर भी सतोप्रधान है। फिर पिछाड़ी में आकर आइरन एजड शरीर मिलता है क्योंकि आत्मा में खाद पड़ती है। तो गोल्डन एज, सिलवर एज इस सृष्टि को कहा जाता है।

तो अब बच्चों को क्या करना है? पहले-पहले शान्तिधाम जाना है इसलिए बाप को याद करना है तब ही तमोप्रधान से सतोप्रधान बन जायेंगे। इसमें टाइम उतना ही लगता है, जितना टाइम बाप यहाँ रहते हैं। वह गोल्डन एज में पार्ट लेते ही नहीं। तो आत्मा को जब शरीर मिलता है तब कहा जाता है यह गोल्डन एजड जीव आत्मा है। ऐसे नहीं कहेंगे गोल्डन एजड आत्मा। नहीं, गोल्डन एजड जीवात्मा फिर सिलवर एजड जीवात्मा होती है। तो यहाँ तुम बैठे हो, तुमको शान्ति भी है तो सुख भी प्राप्त होता है। तो क्या करना चाहिए? दु:खधाम का सन्यास। इसको कहा जाता है बेहद का सन्यास। उन सन्यासियों का है हद का सन्यास, घरबार छोड़ जंगल में जाते हैं। उनको यह पता नहीं है कि सारी सृष्टि ही जंगल है। यह कांटों का जंगल है। यह है कांटों की दुनिया, वह है फूलों की दुनिया। वह भल सन्यास करते हैं परन्तु फिर भी कांटों की दुनिया में, जंगल में शहर से दूर-दूर जाकर रहते हैं। उन्हों का है निवृत्ति मार्ग, तुम्हारा है प्रवृत्ति मार्ग। तुम पवित्र जोड़ी थे, अभी अपवित्र बने हो। उनको गृहस्थ आश्रम भी कहते हैं। सन्यासी तो आते ही बाद में हैं। इस्लामी, बौद्धी भी बाद में आते हैं। क्रिश्चियन से कुछ पहले आते हैं। तो यह झाड़ भी याद करना है, चक्र भी याद करना है। बाप कल्प-कल्प आकर कल्प वृक्ष की नॉलेज देते हैं क्योंकि खुद बीजरूप हैं, सत हैं, चैतन्य हैं इसलिए कल्प-कल्प आकर कल्प वृक्ष का सारा राज़ समझाते हैं। तुम आत्मा हो परन्तु तुमको ज्ञान सागर, सुख का सागर, शान्ति का सागर नहीं कहा जाता। यह महिमा एक ही बाप की है जो तुमको ऐसा बनाते हैं। बाप की यह महिमा सदैव के लिए है। सदैव वह पवित्र है और निराकार है। सिर्फ थोड़े समय के लिए आते हैं पावन बनाने। सर्वव्यापी की तो बात ही नहीं। तुम जानते हो बाप सदैव वहाँ ही रहते हैं। भक्ति मार्ग में सदैव उनको याद करते हैं। सतयुग में तो याद करने की दरकार नहीं रहती है। रावण राज्य में तुम्हारा चिल्लाना शुरू होता है, वही आकर सुख-शान्ति देते हैं। तो फिर जरूर अशान्ति में उनकी याद आती है। बाप समझाते हैं हर 5 हज़ार वर्ष बाद मैं आता हूँ। आधाकल्प है सुख, आधाकल्प है दु:ख। आधाकल्प के बाद ही रावण राज्य शुरू होता है। इसमें पहला नम्बर मूल है देह-अभिमान। उसके बाद ही फिर और-और विकार आते हैं। अब बाप समझाते हैं अपने को आत्मा समझो, देही-अभिमानी बनो। आत्मा की भी पहचान चाहिए। मनुष्य तो सिर्फ कहते हैं आत्मा भ्रकुटी के बीच चमकती है। अभी तुम समझते हो वह है अकाल मूर्त, उस अकाल मूर्त आत्मा का तख्त यह शरीर है। आत्मा बैठती भी भ्रकुटी में है। अकाल मूर्त का यह तख्त है, सब चैतन्य अकाल तख्त हैं। वह अकालतख्त नहीं जो अमृतसर में लकड़ी का बना दिया है। बाप ने समझाया है जो भी मनुष्य मात्र हैं, सबका अपना-अपना अकालतख्त है। आत्मा आकर यहाँ विराजमान होती है। सतयुग हो या कलियुग हो, आत्मा का तख्त है ही यह मनुष्य शरीर। तो कितने अकालतख्त हैं। जो भी मनुष्य मात्र हैं अकाल आत्माओं के तख्त हैं। आत्मा एक तख्त छोड़ झट दूसरा लेती है। पहले छोटा तख्त होता है फिर बड़ा होता है। यह शरीर रूपी तख्त छोटा-बड़ा होता है, वह लकड़ी का तख्त जिसको सिक्ख लोग अकाल तख्त कहते हैं, वह तो छोटा बड़ा नहीं होता। यह किसको भी पता नहीं है कि सब मनुष्य मात्र का अकाल तख्त यह भ्रकुटी है। आत्मा अकाल है, कब विनाश नहीं होती। आत्मा को तख्त भिन्न-भिन्न मिलते हैं। सतयुग में तुमको बड़ा फर्स्टक्लास तख्त मिलता है, उनको कहेंगे गोल्डन एजड तख्त। फिर उस आत्मा को सिलवर, कॉपर, आइरन एजड तख्त मिलता है। फिर गोल्डन एजड तख्त चाहिए तो जरूर पवित्र बनना पड़े इसलिए बाप कहते हैं मामेकम् याद करो तो तुम्हारी खाद निकल जायेगी। फिर तुमको ऐसा दैवी तख्त मिलेगा। अभी ब्राह्मण कुल का तख्त है। पुरूषोत्तम संगमयुग का तख्त है फिर मुझ आत्मा को यह देवताई तख्त मिलेगा। यह बातें दुनिया के मनुष्य नहीं जानते। देह-अभिमान में आने के बाद एक-दो को दु:ख देते रहते हैं, इसलिए इनको दु:खधाम कहा जाता है। अब बाप बच्चों को समझाते हैं शान्तिधाम को याद करो, जो तुम्हारा असली निवास स्थान है। सुखधाम को याद करो, इनको भूलते जाओ, इनसे वैराग्य। ऐसे भी नहीं सन्यासियों मिसल घरबार छोड़ना है। बाप समझाते हैं वह एक तरफ अच्छा है, दूसरे तरफ बुरा है। तुम्हारा तो अच्छा ही है। उनका हठयोग अच्छा भी है, बुरा भी है क्योंकि देवतायें जब वाम मार्ग में जाते हैं तो भारत को थमाने के लिए पवित्रता जरूर चाहिए। तो उसमें भी मदद करते हैं। भारत ही अविनाशी खण्ड है। बाप का भी आना यहाँ होता है। तो जहाँ पर बेहद का बाप आते हैं वह सबसे बड़ा तीर्थ हो गया ना। सर्व की सद्गति बाप ही आकर करते हैं, इसलिए भारत ही ऊंच ते ऊंच देश है।

मूल बात बाप समझाते हैं – बच्चे, याद की यात्रा में रहो। गीता में भी मनमनाभव अक्षर है परन्तु बाप कोई संस्कृत तो नहीं बतलाते हैं। बाप मनमनाभव का अर्थ बताते हैं। देह के सब धर्म छोड़ अपने को आत्मा निश्चय करो। आत्मा अविनाशी है, वह कभी छोटी-बड़ी नहीं होती। अनादि-अविनाशी पार्ट भरा हुआ है। ड्रामा बना हुआ है। पिछाड़ी में जो आत्मायें आती हैं उनका बहुत थोड़ा पार्ट है। बाकी टाइम शान्तिधाम में रहते हैं। स्वर्ग में तो आ न सकें। पिछाड़ी को आने वाले वहाँ ही थोड़ा सुख, वहाँ ही थोड़ा दु:ख पाते हैं। जैसे दीवाली पर मच्छर कितने ढेर निकलते हैं, सुबह को उठकर देखो तो सब मच्छर मरे पड़े होंगे। तो मनुष्यों का भी ऐसे है पिछाड़ी में आने वाले की क्या वैल्यु रहेगी। जैसे जानवर मिसल ठहरे। तो बाप समझाते हैं यह सृष्टि का चक्र कैसे फिरता है। मनुष्य सृष्टि रूपी झाड़ छोटे से बड़ा, बड़े से छोटा कैसे होता है। सतयुग में कितने थोड़े मनुष्य, कलियुग में कितनी वृद्धि हो झाड़ बड़ा हो जाता है। मुख्य बात बाप ने इशारा दिया है – गृहस्थ व्यवहार में रहते मामेकम् याद करो। 8 घण्टा याद में रहने का अभ्यास करो। याद करते-करते आखरीन पवित्र बन बाप के पास चले जायेंगे तो स्कॉलरशिप भी मिलेगी। पाप अगर रह जायेंगे तो फिर जन्म लेना पड़े। सजायें खाते हैं फिर पद भी कम हो पड़ता है। हिसाब-किताब चुक्तू तो सबको करना है। जो भी मनुष्य मात्र हैं अभी तक भी जन्म लेते रहते हैं। इस समय देखेंगे भारतवासियों से क्रिश्चियन की संख्या ज्यादा है। वह फिर सेन्सी-बुल भी हैं। भारतवासी तो 100 परसेन्ट सेन्सीबुल थे, सो अब फिर नानसेन्सीबुल बन गये हैं क्योंकि यही 100 परसेन्ट सुख पाते हैं फिर 100 परसेन्ट दु:ख भी यही पाते हैं। वह तो आते ही पीछे हैं।

बाप ने समझाया है क्रिश्चियन डिनायस्टी का कृष्ण डिनायस्टी से कनेक्शन है। क्रिश्चियन ने राज्य छीना फिर क्रिश्चियन डिनायस्टी से ही राज्य मिलना है। इस समय क्रिश्चियन का जोर है। उन्हों को भारत से ही मदद मिलती है। अभी भारत भूख मरता है तो रिटर्न सर्विस हो रही है। यहाँ से बहुत धन, बहुत हीरे-जवाहर आदि वहाँ ले गये हैं। बहुत धनवान बने हैं तो अब फिर धन पहुँचाते रहते हैं। उनको मिलने का तो है नहीं। तो अब तुम बच्चों को तो कोई पहचानते नहीं हैं। अगर पहचानते तो आकर राय लेते। तुम हो ईश्वरीय सम्प्रदाय, जो ईश्वर की राय पर चलते हो। वही फिर ईश्वरीय सम्प्रदाय से दैवी सम्प्रदाय बनेंगे। फिर क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र सम्प्रदाय बनेंगे। अभी हम सो ब्राह्मण हैं फिर हम सो देवता, हम सो क्षत्रिय….. हम सो का अर्थ देखो कितना अच्छा है। यह बाजोली का खेल है जिसको समझना बहुत सहज है। परन्तु माया भुला देती है फिर दैवीगुणों से आसुरी गुणों में ले आती है। अपवित्र बनना आसुरी गुण है ना। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) स्कॉलरशिप लेने के लिए गृहस्थ व्यवहार में रहते कम से कम 8 घण्टा बाप को याद करने का अभ्यास करना है। याद के अभ्यास से ही पाप कटेंगे और गोल्डन एजड तख्त मिलेगा।

2) इस दु:खधाम से बेहद का वैराग्य कर अपने असली निवास स्थान शान्तिधाम और सुखधाम को याद करना है। देह-अभिमान में आकर किसी को दु:ख नहीं देना है।

वरदान:- रूहानी माशूक की आकर्षण में आकर्षित हो मेहनत से मुक्त होने वाले रूहानी आशिक भव
माशूक अपने खोये हुए आशिकों को देख खुश होते हैं। रूहानी आकर्षण से आकर्षित हो अपने सच्चे माशूक को जान लिया, पा लिया, यथार्थ ठिकाने पर पहुंच गये। जब ऐसी आशिक आत्मायें इस मोहब्बत की लकीर के अन्दर पहुंचती हैं तो अनेक प्रकार की मेहनत से छूट जाती हैं क्योंकि यहाँ ज्ञान सागर के स्नेह की लहरें, शक्ति की लहरें… सदा के लिए रिफ्रेश कर देती हैं। यह मनोरंजन का विशेष स्थान, मिलने का स्थान आप आशिकों के लिए माशूक ने बनाया है।
स्लोगन:- एकान्तवासी बनने के साथ-साथ एकनामी और एकानामी वाले बनो।

TODAY MURLI 24 OCTOBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 24 October 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 23 October 2018 :- Click Here

24/10/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, at the time of the early morning hours, remember Me, your Father, with your mind and intellect. Together with that, do the service of making Bharat into the divine land of kings (Rajasthan).
Question: On what basis do you receive the prize of the sun-dynasty kingdom?
Answer: In order to claim the prize of the sun-dynasty kingdom, become a complete helper of the Father. Continue to follow shrimat. Don’t ask for blessings but make effort to make yourself the soul, pure with the power of yoga. Renounce your body and all bodily relations and remember the one mostbeloved Father and you will receive the prize of the sun-dynasty kingdom. There will be everything – peace, purity and prosperity in that.
Song: At last the day for which we had been waiting has come. 

Om shanti. The meaning of ‘Om shanti’ always remains in the intellects of you children. No one, apart from you children, would be able to understand the things the Father explains. It is like when a new person goes and sits in a medical college and wouldn’t understand anything. There is no such spiritual gathering where people go and aren’t able to understand anything. There, they relate the things of the scriptures. This is the biggest college of all. This is not something new. The day has come once again when the Father sits here and teaches you children Raja Yoga. At this time there is no kingdom in Bharat. You become the kings of kings through this Raja Yoga, that is, you know that you are also becoming the kings of those who become vicious kings. You have received intellects. Whatever actions are performed remain in your intellect. You are warriors. You souls know that, by having yoga with the Father, you are making Bharat pure, and that by imbibing the knowledge of the beginning, the middle and the end of the cycle, you are becoming the kings who rule the globe. It should remain in your intellects that you are on a battlefield. Our victory is already guaranteed; it is certain. We are truly making this Bharat into the divine land of double-crowned kings. Baba continues to explain the pictures very well for you. We have completed our 84 births and are now to return home. We will then come and rule here. People ask: What are all these Brahma Kumars and Kumaris doing? What is this organisation of Brahma Kumaris? The BKsinstantly say that they are making this Bharat into the divine land of kings once again by following shrimat. People don’t know the meaning of “Shri”. You know that Shiv Baba is Shri Shri. His rosary is created. Whose creation is all of this? The Father is the Creator. Whoever it is, the sun dynasty or the moon dynasty, this is the whole rosary of Rudra Shiv Baba. Everyone knows their Creator, but they don’t know His occupation. It is not in anyone’s intellect how or when He comes and makes the old world new. They believe that the iron age is going to continue for many more years. You now know that you have become instruments to establish the divine land of kings. There will truly be the land of deity kings and there will then be the land of warrior kings. There will first be the kingdom of the sun-dynasty clan and then the warrior clan. If you want to become the kings and queens of the globe, the cycle should spin in your intellects. You can explain these pictures very well to anyone. This Lakshmi and Narayan belong to the sun-dynasty clan and Rama and Sita belong to the warrior clan. They then become the merchant and shudra dynasties, the impure clans. Those who are worthy of worship then become worshippers. Pictures of kings with a single crown should also be created. This exhibition will be very wonderful. You know that, according to the drama, this exhibition is extremely essential for service, for it is only then that it will sit in the intellects of the children. It is explained through the pictures how the new world is being established. The mercury of happiness should rise in the intellects of you children. It has been explained to you that, in the golden age, they have knowledge of the soul. That is, when someone becomes old, he suddenly has the thought that he has to shed his old body and take a new one. They have that thought at the end of their lifespans, but otherwise, they remain happy for the rest of the time. In the beginning, they don’t have that knowledge. It has been explained to you children that no one knows the name, form, land or time of the Supreme Father, the Supreme Soul, until He comes and gives His own introduction. His introduction is very deep. At first, it has to be said that His form is that of a lingam. When they create a sacrificial fire of Rudra, they make lingams of clay, which they continue to worship. The Father didn’t tell you of the point-form in the beginning. If He had told you of the point-form in the beginning, you wouldn’t have understood it. He explains whatever has to be explained when it has to be explained. You cannot ask: Why didn’t You explain to us earlier the things You are explaining to us today? No, it is fixed in the drama in this way. Service can grow a lot through this exhibition. After an invention has been created, it increases, just as Baba gives the example of the motor car. At first, it took effort to invent it, and then they started producing ‘a motor a minute  in the big factories. Science has expanded so much. You know that Bharat is so big and that the world is also so big. Then, it will become so small. This has to be made to sit in your intellects very well. It will only sit in the intellects of serviceable children. All the others simply waste their time eating, drinking and gossiping. You know that the land of deity kings is once again being established in Bharat. In fact, to call it a kingdom is also wrong. Bharat is becoming the divine land of kings (Rajasthan). At this time, it is the land of devilish kings; it is the kingdom of Ravan: there is the influence of the five vices in everyone. There are millions of souls; all are actors. They come at their own time then go back and they all then have to repeat their parts at their own time. The drama repeatsidentically second by second. The part that was played in the previous cycle is the part that is being played now. All of this has to be kept in your intellects. It becomes difficult when you are engaged in your business etc; but the Father says: The early morning time has been remembered. They sing: O mind, remember Rama in the early morning hours. The Father says: Now, don’t remember anyone else. Remember Me in the early morning hours. The Father now tells you this personally and it is then remembered on the path of devotion. There is no remembrance of this in the golden and silver ages. The Father says: O souls, remember Me, your Father, with your mind and intellect in the early morning hours. Generally, devotees remain awake at night and they remember something or other. The customs and systems of this time then continue on the path of devotion. You children continue to receive many different methods with which to explain. At such-and-such a time Bharat was the land of divine kings, then it became the land of warrior kings and then it became the land of merchant kings. They continue to become tamopradhan day by day. They definitely have to fall. This cycle is the main thing. By knowing the cycle, you become the kings who rule the globe. You are now sitting in the iron age. The golden age is in front of you. You have the knowledge of how this cycle turns. You know that you will be in the golden-aged kingdom tomorrow. It is so easy! At the top, there is Trimurti Shiva. There is the cycle. Lakshmi and Narayan are also included in that. When this picture is kept in front of them, it is easy to explain to anyone. Bharat was the divine land of kings, but it isn’t that now. There aren’t even those with single crown. You children have to explain using the pictures. These pictures are very valuable. They are such wonderful things and so you have to explain them wonderfully. You should all keep these 30″ x 40″ pictures of the tree and the Trimurti in your homes. When your friends and relatives come, explain these pictures to them. This is world history and geography. All of you children should definitely have these pictures. Together with these, you should also have good songs. At last the day has come. Truly, Baba has now come. He is teaching us Raja Yoga. Anyone who asks for the pictures can have them. Poor people can receive them free. However, you have to have the courage to explain them. This is the treasure of the imperishable jewels of knowledge. You are donors. No one else can donate the imperishable jewels of knowledge like you do. There is no other donation like this. So you should donate these. You should explain to whoever comes. Seeing one or two come, many others will come. These pictures are most valuable things. They are invaluable, just as you are also said to be invaluable. You are becoming like diamonds from shells. If someone were to take these pictures abroad and explain them, there would be great wonders. For so long, sannyasis have been saying that they are teaching the yoga of Bharat. Each one praises his own religion. Those who belong to the Buddhist religion make so many others into Buddhists, but there is no benefit in that. Here, you are changing human beings from being like monkeys into those who are worthy to sit in a temple. Only in Bharat were they completely viceless. Bharat was beautiful and Bharat is now ugly. There are so many human beings. There will be very few people in the golden age. The Father only comes at the confluence age to carry out establishment. He teaches Raja Yoga. He only teaches it to the children who studied it in the previous cycle. Establishment has to take place. Children are defeated by Ravan and then they conquer Ravan. It is so easy! Therefore, you children should have big pictures made and do service using those pictures. The writing on them should be very large. You should write on them where it is that the path of devotion begins. The Father would surely come to grant salvation when degradation comes to an end. Baba has explained that you mustn’t tell anyone not to do devotion; no. You have to give them the Father’s introduction for only then will the arrow strike the target. You know that the war is called the Mahabharat War because this is the big sacrificial fire and that war starts from this sacrificial fire. This old world has to end. These things are in your intellect. People continue to receive peace prizes, but peace is not established. In fact, it is only the one Father who establishes peace. You are His helpers. You have to receive the prize. The Father doesn’t receive the prize. The Father is the Bestower. You receive a prize, numberwise, according to the effort you make. There will be countless children. You are now establishing puritypeace and prosperity. It is such a big prize. You know that however much effort you make, you will accordingly receive the prize of the sun-dynasty kingdom. The Father is the One who gives you shrimat. You cannot say: Baba, give us blessings! Students are given advice: Remember the Father and your sins will be absolved. Only with the power of yoga will you souls become pure. All of you are Sitas. You go through fire. Either you go through with the power of yoga or you will have to burn in the fire. Renounce your body and all bodily relations and remember the one most beloved Father. However, it is difficult for this remembrance to remain constant; it takes time. The fire of yoga has been remembered. The ancient yoga and knowledge of Bharat are very well known because the Gita is the jewel, the mother, of all the scriptures. Raja Yoga is mentioned in it. However, they have lost the word “Raja” and just caught hold of the word “yoga”. No one except the Father can say: I will make you into the kings of kings with this Raja Yoga. You are now sitting personally in front of Shiv Baba. You know that all of you souls are going to reside there, in the supreme abode, and that you will then adopt bodies and play your parts. Shiv Baba doesn’t take rebirth. Brahma, Vishnu and Shankar also do not have to take rebirth. The Father says: I come to make impure ones pure. This is why everyone remembers Me and says: O Purifier, come! These words are accurate. The Father says: I am making you into pure deities and so you should also have that much intoxication. Baba enters this one and gives us teachings. Baba is the Master of this garden of flowers. We are holding on to Baba’s hand. This is all a matter of the intellect. Baba is taking us across to that side, from the ocean of poison to the ocean of milk. There is no poison there. This is why that is called the viceless world. Bharat was viceless and it has now become vicious. This cycle is only for Bharat. Only the people of Bharat go around the cycle. Those of other religions do not go around the full cycle; they come later. This is a very wonderful cycle. There should be this intoxication in your intellects. There should be a lot of attention paid to these pictures. Demonstrate this by doing service. Your name will be glorified if these pictures are sent abroad. S ervice would then take place at a fast speed. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Donate the treasures of the imperishable jewels of knowledge that you have received. Do not waste your time eating, drinking and gossiping.
  2. Do the service of making human beings become like diamonds from shells. Don’t ask the Father for blessings or mercy. Continue to follow His directions.
Blessing: May you protect yourself from any sin of jealousy by keeping the Father in front of you and becoming a special soul.
Because Brahmin souls are equal, jealousy arises. Because of jealousy there is some conflict of sanskars. If this happens, specially consider who was it that made that one an instrument when your equal becomes an instrument for a special task. Bring the Father in front of you and Maya in the form of jealousy will run away. If you do not like something about someone, then speak about it to the seniors with good wishes, not with jealousy. Race among yourselves, but do not compete and you will each become a special soul.
Slogan: You are someone who makes the Father your Companion and who observes the games of Maya as a detached observer.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 24 OCTOBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 24 October 2018

To Read Murli 23 October 2018 :- Click Here
24-10-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – प्रभात के समय मन-बुद्धि से मुझ बाप को याद करो, साथ-साथ भारत को दैवी राजस्थान बनाने की सेवा करो”
प्रश्नः- सूर्यवंशी राजधानी की प्राइज़ किस आधार पर मिलती है?
उत्तर:- सूर्यवंशी राजधानी की प्राइज़ लेना है तो बाप का पूरा मददगार बनो, श्रीमत पर चलते रहो। आशीर्वाद नहीं मांगनी है लेकिन योगबल से आत्मा को पावन बनाने का पुरुषार्थ करना है। देह सहित देह के सब सम्बन्धों को त्याग एक मोस्ट बिलवेड बाप को याद करो तो तुम्हें सूर्यवंशी राजधानी की प्राइज़ मिल जायेगी। उसमें पीस, प्योरिटी, प्रासपर्टी सब कुछ होगा।
गीत:- आखिर वह दिन आया आज……… 

ओम् शान्ति। ओम् शान्ति का अर्थ तो तुम बच्चों की बुद्धि में रहता ही है। बाप जो समझाते हैं वह इस दुनिया में सिवाए तुम्हारे और किसको समझ में नहीं आयेगा। वह ऐसे समझेंगे जैसे कोई मेडिकल कॉलेज में नया जाकर बैठे तो कुछ समझ न सके। ऐसे कोई सतसंग होता नहीं, जहाँ मनुष्य जाये और कुछ न समझे। वहाँ तो है ही शास्त्र आदि सुनाने की बातें। यह है बड़े ते बड़ी कॉलेज। नई बात नहीं है। फिर से वह दिन आया आज, जबकि बाप बैठ बच्चों को राजयोग सिखलाते हैं। इस समय भारत में राजाई तो है नहीं। तुम इस राजयोग से राजाओं का राजा बनते हो अर्थात् तुम जानते हो कि जो विकारी राजायें हैं उनके भी हम राजा बन रहे हैं। बुद्धि मिली है। जो कोई कर्म करते हैं वह बुद्धि में रहता है ना। तुम वारियर्स हो, जानते हो हम आत्मायें अब बाप के साथ योग रखने से भारत को पवित्र बनाते हैं और चक्र के आदि-मध्य-अन्त की नॉलेज धारण कर हम चक्रवर्ती राजा बन रहे हैं। यह बुद्धि में रहना चाहिए। हम युद्ध के मैदान में हैं। विजय तो हमारी है ही। यह तो सर्टेन है। बरोबर हम अब इस भारत को फिर से दैवी डबल सिरताज राजस्थान बना रहे हैं। बाबा चित्रों के लिए बहुत अच्छी रीति समझाते रहते हैं। हम 84 जन्म पूरे कर अब वापिस जाते हैं। फिर आकर राज्य करेंगे। यह सब ब्रह्माकुमार-कुमारियां क्या कर रहे हैं, ब्रह्माकुमारियों की यह संस्था क्या है? पूछते हैं ना। बी.के. फट से कहती हैं कि हम इस भारत को फिर से दैवी राजस्थान बना रहे हैं, श्रीमत पर। मनुष्य ‘श्री’ का अर्थ भी नहीं जानते हैं। तुम जानते हो श्री श्री शिवबाबा हैं, उनकी ही माला बनती है। यह सारी रचना किसकी है? क्रियेटर तो बाप हुआ ना। सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी जो भी हैं, यह सारी माला है रुद्र शिवबाबा की। सब अपने रचता को जानते हैं परन्तु उनके आक्यूपेशन को नहीं जानते। वह कब और कैसे आकर पुरानी दुनिया को नया बनाते हैं – यह किसकी बुद्धि में भी नहीं है। वह तो समझते हैं – कलियुग अभी बहुत वर्ष चलना है।

अभी तुम जानते हो हम दैवी राजस्थान स्थापन करने के निमित्त बने हुए हैं। बरोबर दैवी राजस्थान होगा फिर क्षत्रिय राजस्थान होगा। पहले सूर्यवंशी कुल फिर क्षत्रिय कुल का राज्य होगा। तुमको चक्रवर्ती राजा रानी बनना है तो बुद्धि में चक्र फिरना चाहिए ना। तुम किसको भी इन चित्रों पर बहुत अच्छी रीति समझा सकते हो। यह लक्ष्मी-नारायण सूर्यवंशी कुल और यह राम-सीता हैं क्षत्रिय कुल। फिर वैश्य, शूद्र वंशी पतित कुल बन जाते हैं। पूज्य फिर पुजारी बनते हैं। सिंगल ताज वाले राजाओं का चित्र भी बनाना चाहिए। यह एग्जीवीशन बड़ी वन्डरफुल हो जायेगी। तुम जानते हो ड्रामा अनुसार सर्विस अर्थ यह एग्जीवीशन बहुत जरूरी है तब तो बच्चों की बुद्धि में बैठेगा। नई दुनिया कैसे स्थापन हो रही है – वह चित्रों द्वारा समझाया जाता है। बच्चों की बुद्धि में खुशी का पारा चढ़ना चाहिए। यह तो समझाया है सतयुग में आत्मा का ज्ञान है सो भी जब बूढ़े होते हैं तब अनायास ख्याल आता है कि यह पुराना शरीर छोड़ फिर दूसरा नया शरीर लेना है। यह ख्यालात पिछाड़ी के टाइम में आता है। बाकी सारा टाइम खुशी-मौज में रहते हैं। पहले यह ज्ञान नहीं रहता है। बच्चों को समझाया है यह परमपिता परमात्मा का नाम, रूप, देश, काल कोई भी नहीं जानते, जब तक कि बाप आकर अपना परिचय दे और परिचय भी बहुत गम्भीर है। उनका रूप तो पहले लिंग ही कहना पड़ता। रुद्र यज्ञ रचते हैं तो मिट्टी के लिंग बनाते हैं, जिनकी पूजा होती आई है। बाप ने पहले यह नहीं बताया कि बिन्दी रूप है। बिन्दी रूप कहते तो तुम समझ नहीं सकते। जो बात जब समझानी है तब समझाते हैं। ऐसे नहीं कहेंगे पहले क्यों नहीं बताया जो आज समझाते हो। नहीं, ड्रामा में नूँध ही ऐसी है। इस एग्जीवीशन से बहुत सर्विस की वृद्धि होती है। इन्वेन्शन निकलती है तो फिर वृद्धि होती जाती है। जैसे बाबा मोटर का मिसाल देते हैं। पहले इन्वेन्शन करने में मेहनत लगी होगी फिर तो देखो बड़े बड़े कारखानों में एक मिनट में मोटर तैयार हो जाती है। कितनी साइन्स निकली है।

तुम जानते हो कितना बड़ा भारत है। कितनी बड़ी दुनिया है। फिर कितनी छोटी हो जायेगी। यह बुद्धि में अच्छी रीति बिठाना है। जो सर्विसएबुल बच्चे हैं, उन्हों की ही बुद्धि में रहेगा। बाकी का तो खान-पान, झरमुई-झगमुई में ही टाइम वेस्ट होता है। यह तुम जानते हो भारत में फिर से दैवी राजस्थान स्थापन हो रहा है। वास्तव में किंगडम अक्षर भी रांग है। भारत दैवी राजस्थान बन रहा है। इस समय आसुरी राजस्थान है, रावण का राज्य है। हरेक में 5 विकार प्रवेश हैं। कितनी करोड़ आत्मायें हैं, सब एक्टर्स हैं। अपने-अपने समय पर आकर और फिर चले जाते हैं। फिर हरेक को अपना पार्ट रिपीट करना होता है। सेकेण्ड बाई सेकेण्ड ड्रामा हूबहू रिपीट होता है। जो कल्प पहले पार्ट बजाया था, वही अब बजता है, इतना सब बुद्धि में रखना है। धन्धेधोरी में रहने से तो फिर मुश्किल हो जाता है परन्तु बाप कहते हैं प्रभात का तो गायन है। गाते हैं राम सिमर प्रभात मोरे मन…….. बाप कहते हैं अभी और कुछ भी नहीं सिमरो, प्रभात के समय मुझे याद करो। बाप अभी सम्मुख कहते हैं, भक्ति मार्ग में फिर गायन चलता है। सतयुग-त्रेता में तो गायन होता नहीं। बाप समझाते हैं – हे आत्मा, अपने मन-बुद्धि से प्रभात के समय मुझ बाप को याद करो। भक्त लोग अक्सर करके रात को जागते हैं, कुछ न कुछ याद करते हैं। यहाँ की रस्म-रिवाज फिर भक्ति मार्ग में चली आई है। तुम बच्चों को समझाने की भिन्न-भिन्न युक्तियां मिलती रहती हैं। भारत इतना समय पहले दैवी राजस्थान था फिर क्षत्रिय राजस्थान हुआ फिर वैश्य राजस्थान बना। दिन-प्रतिदिन तमोप्रधान बनते जाते हैं, गिरना जरूर है। मुख्य है यह चक्र, चक्र को जानने से तुम चक्रवर्ती राजा बनते हो। अभी तुम कलियुग में बैठे हो। सामने सतयुग है। यह चक्र कैसे फिरता है, इसका तुमको ज्ञान है। जानते हो कल हम सतयुगी राजधानी में होंगे। कितना सहज है। ऊपर में त्रिमूर्ति शिव भी है। चक्र भी है। लक्ष्मी-नारायण भी इसमें आ जाते हैं। यह चित्र सामने रखा हुआ हो तो कोई को भी सहज रीति समझा सकते हो। भारत दैवी राजस्थान था, अभी नहीं है। सिंगल ताज वाले भी नहीं हैं। चित्रों पर ही तुम बच्चों को समझाना है। यह चित्र बहुत वैल्युबुल हैं। कितनी वन्डरफुल चीज़ है तो वन्डरफुल रीति समझाना भी पड़े। यह 30 X 40 का झाड़ त्रिमूर्ति भी सबको अपने-अपने घर में रखना पड़े। कोई भी मित्र-सम्बन्धी आदि आये तो इन चित्रों पर ही समझाना चाहिए। यह वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी है। हरेक बच्चे के पास यह चित्र जरूर होने चाहिए। साथ में अच्छे-अच्छे गीत भी हों। आखिर वह दिन आया आज – बरोबर बाबा आया हुआ है। हमको राजयोग सिखलाते हैं। चित्र तो कोई भी मांगे मिल सकते हैं। गरीबों को फ्री मिल सकते हैं। परन्तु समझाने की भी ताकत चाहिए। यह है अविनाशी ज्ञान रत्नों का खजाना। तुम दानी हो, तुम्हारे जैसा अविनाशी ज्ञान रत्नों का दान कोई कर नहीं सकता। ऐसा दान कोई होता नहीं। तो दान करना चाहिए, जो आये उनको समझाना चाहिए। फिर एक-दो को देख बहुत आयेंगे। यह चित्र मोस्ट वैल्युबुल चीज़ हैं, अमूल्य हैं। जैसे तुम भी अमूल्य कहलाते हो। तुम कौड़ी से हीरे जैसा बनते हो। यह चित्र विलायत में ले जाकर कोई समझाये तो कमाल हो जाए। इतना समय यह सन्यासी लोग कहते आये कि हम भारत का योग सिखलाते हैं। हर एक अपने धर्म की महिमा करते हैं। बौद्ध धर्म वाले कितने को बौद्धी बना देते हैं, परन्तु उससे फायदा तो कुछ भी नहीं। तुम तो यहाँ मनुष्य को बन्दर से मन्दिर लायक बनाते हो। भारत में ही सम्पूर्ण निर्विकारी थे। भारत गोरा था, अभी भारत काला है। कितने मनुष्य हैं! सतयुग में तो बहुत थोड़े होंगे ना। संगम पर ही बाप आकर स्थापना करते हैं। राजयोग सिखलाते हैं। उन बच्चों को ही सिखलाते हैं, जिन्होंने कल्प पहले भी सीखा था। स्थापना तो होनी ही है। बच्चे रावण से हार खाते हैं फिर रावण पर जीत पाते हैं। कितना सहज है। तो बच्चों को बड़े चित्र बनवाकर उस पर सर्विस करनी चाहिए। बड़े-बड़े अक्षर होने चाहिए। लिखना चाहिए – यहाँ से भक्ति मार्ग शुरू होता है। जरूर जब दुर्गति पूरी होगी तब तो बाप सद्गति करने आयेंगे ना।

बाबा ने समझाया है ऐसे कभी भी किसको नहीं कहना कि भक्ति न करो। नहीं, बाप का परिचय दे समझाना है तब तीर लगेगा। तुम जानते हो महाभारत लड़ाई क्यों कहा जाता है? क्योंकि यह बड़ा भारी यज्ञ है, इस यज्ञ से ही यह लड़ाई प्रज्वलित हुई है। यह पुरानी दुनिया ख़त्म होनी है। यह बातें तुम्हारी बुद्धि में हैं। मनुष्यों को पीस प्राइज़ मिलती रहती है। परन्तु पीस तो होती नहीं। वास्तव में पीस स्थापन करने वाला तो एक ही बाप है। उनके साथ तुम मददगार हो। प्राइज भी तुमको मिलनी है। बाप को थोड़ेही प्राइज़ मिलती है। बाप तो है देने वाला। तुमको नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार प्राइज मिलती है। बेशुमार बच्चे होंगे। तुम अभी प्योरिटी, पीस, प्रासपर्टी स्थापन कर रहे हो। कितनी भारी प्राइज़ है! जानते हो जितना जो मेहनत करेंगे उनको सूर्यवंशी राजधानी की प्राइज़ मिलेगी। बाप है श्रीमत देने वाला। ऐसे नहीं, बाबा आशीर्वाद करो। स्टूडेन्ट को राय दी जाती है कि बाप को याद करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। योगबल से ही तुम्हारी आत्मा पवित्र बनेगी। तुम सब सीतायें हो, आग से पार होती हो। या तो योगबल से पार होना है या तो आग में जलना पड़ेगा। देह सहित सब सम्बन्धों को त्याग एक मोस्ट बिलवेड बाप को याद करना है। परन्तु यह याद निरन्तर रहने में बड़ी मुश्किलात है। टाइम लगता है। गाया भी हुआ है योग अग्नि। भारत का प्राचीन योग और ज्ञान मशहूर है क्योंकि गीता है सर्व शास्त्रमई शिरोमणी। उसमें राजयोग अक्षर है, परन्तु राज अक्षर गुम कर सिर्फ योग अक्षर पकड़ लिया है। बाप बिगर कोई कह न सके कि इस राजयोग से मैं तुमको राजाओं का राजा बनाऊंगा। अभी तुम शिवबाबा के सम्मुख बैठे हो। जानते हो हम सब आत्मायें वहाँ परमधाम में निवास करने वाली हैं फिर शरीर धारण कर पार्ट बजाती हैं। पुनर्जन्म शिवबाबा तो नहीं लेते। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर को भी पुनर्जन्म नहीं लेना है। बाप कहते हैं मैं आता ही हूँ पतित से पावन बनाने इसलिए ही सब याद करते हैं पतित-पावन आओ, यह एक्यूरेट अक्षर है। बाप कहते हैं हम तुमको पावन सो देवी-देवता बना रहे हैं तो इतना नशा भी चढ़ना चाहिए। बाबा इनमें आकर हमको शिक्षा दे रहे हैं। इस फलों के बगीचे का बागवान बाबा है, बाबा का हमने हाथ पकड़ा है। इसमें सारी बुद्धि की बात है। बाबा हमको उस पार, विषय सागर से क्षीर सागर में ले जाते हैं। वहाँ विष होता नहीं, इसलिए उनको वाइसलेस वर्ल्ड कहा जाता है। निर्विकारी भारत था, अब वह विकारी बना हुआ है। यह चक्र भारत के लिए ही है। भारतवासी ही चक्र लगाते हैं। और धर्म वाले पूरा चक्र नहीं लगाते। वह तो पिछाड़ी में आते हैं। यह बड़ा वन्डरफुल चक्र है। बुद्धि में नशा रहना चाहिए। इन चित्रों पर बड़ा अटेन्शन रहना चाहिए। सर्विस करके दिखाओ। विलायत में भी चित्र जायें तो नाम बाला होगा। विहंग मार्ग की सर्विस हो जाए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अविनाशी ज्ञान रत्नों का खजाना जो मिला है उसे दान करना है। अपना समय खाने-पीने, झरमुई-झगमुई में व्यर्थ नहीं गँवाना है।

2) कौड़ी जैसे मनुष्यों को हीरे जैसा बनाने की सेवा करनी है। बाप से आशीर्वाद या कृपा मांगनी नहीं है। उनकी राय पर चलते रहना है।

वरदान:- बाप को सामने रख ईर्ष्या रूपी पाप से बचने वाले विशेष आत्मा भव
ब्राह्मण आत्माओं में हमशरीक होने के कारण ईर्ष्या उत्पन्न होती है, ईर्ष्या के कारण संस्कारों का टक्कर होता है लेकिन इसमें विशेष सोचो कि यदि हमशरीक किसी विशेष कार्य के निमित्त बना है तो उनको निमित्त बनाने वाला कौन! बाप को सामने लाओ तो ईर्ष्या रूपी माया भाग जायेगी। अगर किसी की बात आपको अच्छी नहीं लगती है तो शुभ भावना से ऊपर दो, ईर्ष्या वश नहीं। आपस में रेस करो, रीस नहीं तो विशेष आत्मा बन जायेंगे।
स्लोगन:- आप बाप को अपना साथी बनाने वाले और माया के खेल को साक्षी हो देखने वाले हो।
Font Resize