24 july ki murli

TODAY MURLI 24 JULY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 24 July 2020

24/07/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father has come to give you the jewels of knowledge.Whatever the Father says or explains to you is knowledge. No one, except the Ocean of Knowledge, can give you these jewels of knowledge.
Question: What is the main reason why the value of souls decreases?
Answer: The value decreases when alloy is mixed into them. Just as the value of jewellery made with gold becomes less when alloy is mixed into it, in the same way, when the alloy of impurity is mixed into souls that are like pure gold, their value decreases. At this time, souls that are tamopradhan have no value. Even their bodies have no value. You souls and your bodies are now both becoming valuable by having remembrance.
Song: Who came today early in the morning?

Om shanti. The Father explains to you sweetest spiritual children and also shows you ways to have remembrance. You children sitting here are internally aware that our innocent Baba, Shiva, has come. If Baba were to sit in silence for half an hour without saying anything, you souls would feel inside that Shiv Baba should say something. You would know that Shiv Baba is present in this one, but that He is not saying anything. This too is your pilgrimage of remembrance. Your intellects have remembrance of Shiv Baba alone. Internally you feel that Shiv Baba should say something and give you jewels of knowledge. The Father only comes to give you the jewels of knowledge. He is the Ocean of Knowledge. He says: Children, remain soul conscious. Remember the Father. This is knowledge. The Father says: Remember the drama cycle, the ladder and the Father. This is knowledge. Whatever Baba explains is called knowledge. He also explains the pilgrimage of remembrance to you. All of these aspects are jewels of knowledge. The things that He explains about remembrance are very good jewels. The Father says: Remember your 84 births. You came down pure and you now have to return after becoming pure. You have to return in your karmateet stage after claiming your full inheritance from the Father. That will only happen when you souls have become satopradhan by having the power of remembrance. These words are very valuable; they should be noted down. It is the souls that imbibe everything. These bodies made of organs are going to be destroyed. Souls are filled with good and bad sanskars. The Father too is filled with the sanskars of knowledge of the beginning, the middle and the end of the world. This is why He is called knowledgefull. Baba explains everything to you correctly. The cycle of 84 births is very easy. The cycle of 84 births has now come to an end. You now have to return home to the Father. Dirty souls cannot go there. When you souls become pure, you will shed your bodies. You cannot receive a pure body here. This is an old shoe; there is disinterest in it. We souls have to be purified so that we can receive pure bodies in the future. In the golden age, both soul and body were pure. At this time, you souls have become impure and so your bodies are also impure. As is the gold, so the ornaments made from it. The Government says that people should wear jewellery made of less carat gold; it isn’t so expensive. The value of you souls is also very low. There, you souls have so much value. You are all satopradhan. Everyone now is tamopradhan. Alloy is mixed into souls; they are of no use at all. There, souls are pure and so they have a lot of value. They have now become nine carat and so they have no value. This is why the Father says: Make the soul pure and you will receive a pure body. No one else can give this knowledge. Only the Father says: Constantly remember Me alone. How could Krishna say this? He is a bodily being. The Father says: Consider yourselves to be souls and remember Me, your Father. Do not remember bodily beings. You understand all of this and you now have to explain to others. Shiv Baba is incorporeal; His birth is subtle (alokik). He also gives subtle birth to you children. So, here, there is the subtle Father and the subtle children. It is said: Lokik (worldly), alokik (subtle), and parlokik (beyond this world). You children receive a subtle birth. The Father adopts you and gives you the inheritance. You Brahmins know that you have taken a subtle birth. You receive a subtle inheritance from the subtle Father. No one but Brahma Kumars and Kumaris can become the masters of the world. Human beings don’t understand anything. The Father explains so much to you. Souls that have become impure cannot become pure except by having remembrance. If you don’t stay in remembrance, alloy will still remain in you souls and you will not be able to become pure. You would then have to experience punishment. Human souls of the whole world have to return home after becoming pure. The bodies are not going to go there. The Father says: It is so difficult to consider yourself to be a soul. You cannot have that stage whilst doing your business etc. The Father says: Achcha, if you are unable to consider yourself to be a soul, remember Shiv Baba. While carrying on with your business etc., make this effort: I, this soul, am doing this work through this body. I, this soul, am remembering Shiv Baba. I, the soul, was at first pure and I now have to become pure once again. This is the effort you have to make. There is huge income to be earned in this. Here, no matter how wealthy people are, no matter how many millions or billions they have, they still don’t have that happiness. Everyone has so much sorrow. Someone may be a great king or a president etc. today, but tomorrow, they would kill him. Look at all the things that are happening abroad! The wealthy and the kings have so many problems. Those who were kings here have become subjects. It has now become government by the people even over those kings. It is fixed like this in the drama. This is its condition at the end. Many will fight among themselves. You know that the same thing happened in the previous cycle. You are now claiming back your kingdom that you lost in an incognito way, with your heart and soul, and with a lot of love. You have been given the recognition that you were the masters, that you were sun-dynasty deities. You are now making effort here to become that once again by listening to the story of becoming true Narayan. How can the Father change us from ordinary humans into Narayan? The Father comes and teaches Raj Yoga. No one on the path of devotion can teach this. No human being can be called the Father, Teacher and Guru. So many old stories are told on the path of devotion. You children now definitely have to become pure in order to receive comfort for 21 births. The Father says: Consider yourselves to be souls. According to the drama, you have been body conscious for half the cycle. You now have to become soul conscious. According to the drama, the old world now has to change and become new. There is just the one world. The old world will become new again. When it was new Bharat in the new world, there were deities living there. You also know its capital. It was by the banks of the River Jamuna; it was also called Paristan. There was natural beauty there. When you souls become pure, you receive pure bodies. The Father says: I come and make you beautiful, into deities. Each of you children should continue to check yourself: Do I have any defects? Do I stay in remembrance? You also have to study. This study is very important. Here, you just study one thing. In other studies there are so many books etc. This study is the highest of all. The One who is teaching you is Shiv Baba, the Highest on High. It isn’t that Shiv Baba is the Master of this world. It is you who become the masters of the world. Baba continues to tell you so many new deep things. People think that God is the Master of the world. The Father explains: Sweetest children, I am not the Master of this world. You become the masters of your kingdom and you then lose that kingdom. Then the Father comes and makes you into the masters of the world again. This is called the world; it doesn’t apply to the subtle region or the incorporeal world. You come here from the incorporeal world and go around the cycle of 84 births. Then the Father has to come again. You are now being inspired to make effort in order to claim back the reward that you lost. This is a play about victory and defeat. This kingdom of Ravan has to end. The Father explains everything so easily. The Father sits here Himself and teaches you. Elsewhere, it is human beings teaching human beings. You too are human beings, but it is you souls that are taught by the Father. The sanskars of studying remain in souls. You are now very knowledgefull. All of that other knowledge is the knowledge of devotion. You do need knowledge to earn an income. There is also the knowledge of the scriptures. This knowledge is spiritual. The spiritual Father sits here and gives knowledge to you spirits. You also heard this 5000 years ago. Nowhere else in the world would anyone teach you in this way. No one knows how God teaches. You children know that a kingdom is being established through this study. Those who study well and follow shrimat will become the highest, whereas those who have the Father defamed by letting go of His hand will receive a very low status amongst the subjects. The Father only teaches one study. There is so much margin (scope) for studying! It used to be the deity kingdom, did it not? Only the one Father comes here and establishes a kingdom. Everything else will be destroyed. The Father says: Children, now prepare yourselves very quickly. Don’t waste your time by being careless. When you don’t stay in remembrance, you lose your most valuable time. Carry on with your business etc. for the livelihood of your body, but let your hands do the work while your heart remembers Baba. The Father says: Remember Me and you will receive the kingdom. There is also the story of Khuda (God), the Friend. There is a play about Aladdin and his magic lamp; through just a clap, so much treasure emerged. You children now understand what you are being made into by Allah when He claps. By having divine visions, you instantly go to Paradise. Earlier, some daughters would sit together and go into trance. Because of this, people started saying that there was magic here. Therefore, that part was stopped. All of those stories refer to this time. There is also the story of Hatamtai. As soon as you put the bead in your mouth, Maya disappears. Then, when you take the bead out, Maya reappears. No one else can understand this secret. The Father says: Children, keep the bead in your mouth. You are oceans of peace; you souls remain in silence, in your original religion of the self. In the golden age, too, you know that you are souls, but no one there knows the Father, the Supreme Soul. Tell anyone who asks you anything about that: There is no mention of vice there; that is the viceless world. The five vices don’t exist there. There is no body consciousness there. In Maya’s kingdom you become body conscious, whereas there, in the golden age, you are conquerors of attachment. Conquer your attachment to this old world. Those people (sannyasis), who leave their households, have disinterest in the world. You don’t have to leave your households. While staying in remembrance of the Father, you have to shed your old bodies and return home. All of you have to settle your karmic accounts. You will then all return home. This happens every cycle. Your intellects now go far up above. Those people try to see how deep the ocean is and what there is on the sun and the moon? Previously, there was the belief that the sun and moon were deities. You now say that they are lights for the stage. The play is performed here. Therefore, lights too are needed here. They don’t exist in the incorporeal world or the subtle region. There is no play performed there. The play continues eternally; the cycle continues to turn. There is no annihilation. Bharat is the eternal land. Human beings reside on it; it doesn’t become flooded. All the animals and birds that exist will also remain. However, none of those other lands exist in the golden or silver age. Whatever you have seen in a divine vision, you will see in a practical way. You will go to Paradise in a practical way and rule there. You are now making effort for this. In spite of that, the Father says: Remembrance requires great effort. Maya doesn’t allow you to have remembrance. Remember Baba with a lot of love. On the path of ignorance too, everyone praises their father with a lot of love. “Our so-and-so was like this and he had such-and-such a status.” You now have the whole world cycle in your intellects. You have the knowledge of all religions. Just as there is the genealogical tree of souls up there, so there is a genealogical tree of human beings here. Brahma is the great-great-grandfather. Then, there is your generation. The world has to continue. The Father explains: Children, in order to become Narayan from an ordinary human, your actions have to be equal to your words. Firstly, look at your stage. Baba, I will definitely claim my full inheritance from You. Therefore, that behaviour is required. This is the only study to change from an ordinary human into Narayan. Only the Father teaches you this study. Only you become kings of kings; they don’t exist in any other lands. You first become pure kings. Then you become impure kings who don’t have crowns of light and you build temples to the pure kings and worship them. You are now studying. Why would a student forget his teacher? You say: Baba, Maya makes me forget You. You put the blame on Maya. Oh! but it is you yourselves who have to remember Baba. There is only the one principal Teacher. All the others are assistant teachers. If you forget the Father, then remember the Teacher. You have been given three chances. If you forget one, remember another. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to claim your full inheritance from the Father, your actions have to be equal to your words. Make effort for this. Become a conqueror of attachment.
  2. Always remember that you are the children of the Ocean of Peace and that you have to remain peaceful. Keep a bead in your mouth. Don’t waste your time by being careless.
Blessing: May you be a master bestower and give souls who are in great distress liberation and salvation in a second.
You make preparations for the season physically and you bring all the servers and all the necessary materials so that there cannot be any difficulties and time is not wasted. In the same way, the final season of giving all souls liberation and salvation is now going to come. Do not give distressed souls the sorrow of having to stand in a queue, let them continue to come and simply take. Become everready for this. Now, stay beyond the effort-making life, in the stage of a bestower. Continue to move along as a master bestower with every thought at every second.
Slogan: Keep the Lord present in your intellect and all attainments will also say, “Yes, my lord”.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 24 JULY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 24 July 2020

Murli Pdf for Print : – 

24-07-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – बाप आये हैं तुम्हें ज्ञान रत्न देने, बाप तुम्हें जो भी सुनाते वा समझाते हैं यह ज्ञान है, ज्ञान रत्न ज्ञान सागर के सिवाए कोई दे नहीं सकता”
प्रश्नः- आत्मा की वैल्यु कम होने का मुख्य कारण क्या है?
उत्तर:- वैल्यु कम होती है खाद पड़ने से। जैसे सोने में खाद डालकर जेवर बनाते हैं तो उसकी वैल्यु कम हो जाती है। ऐसे आत्मा जो सच्चा सोना है, उसमें जब अपवित्रता की खाद पड़ती है तो वैल्यु कम हो जाती है। इस समय तमोप्रधान आत्मा की कोई वैल्यु नहीं। शरीर की भी कोई वैल्यु नहीं। अभी तुम्हारी आत्मा और शरीर दोनों याद से वैल्युबुल बन रहे हैं।
गीत:- यह कौन आज आया सवेरे-सवेरे……..

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चों प्रति बाप बैठ समझाते हैं और याद की युक्तियाँ भी बता रहे हैं। बच्चे बैठे हैं, बच्चों के अन्दर में है शिव भोले बाबा आये हैं। समझो आधा घण्टा शान्त में बैठ जाते हैं, बोलते नहीं हैं तो तुम्हारे अन्दर आत्मा कहेगी कि शिवबाबा कुछ बोले। जानते हो शिवबाबा विराजमान है, परन्तु बोलते नहीं हैं। यह भी तुम्हारी याद की यात्रा है ना। बुद्धि में शिवबाबा ही याद है। अन्दर में समझते हो बाबा कुछ बोले, ज्ञान रत्न देवे। बाप आते ही हैं तुम बच्चों को ज्ञान रत्न देने। वह ज्ञान का सागर है ना। कहेंगे – बच्चे, देही-अभिमानी हो रहो। बाप को याद करो। यह ज्ञान हुआ। बाप कहते हैं इस ड्रामा के चक्र को, सीढ़ी को और बाप को याद करो – यह ज्ञान हुआ। बाबा जो कुछ समझायेंगे उसको ज्ञान कहेंगे। याद की यात्रा भी समझाते रहते हैं। यह सब है ज्ञान रत्न। याद की बात जो समझाते हैं, यह रत्न बहुत अच्छे हैं। बाप कहते हैं अपने 84 जन्मों को याद करो। तुम पवित्र आये थे फिर पवित्र होकर ही जाना है। कर्मातीत अवस्था में जाना है और बाप से पूरा वर्सा लेना है। वह तब मिलेगा, जब आत्मा सतोप्रधान बन जायेगी याद के बल से। यह अक्षर बहुत वैल्युबुल है, नोट करने चाहिए। आत्मा में ही धारणा होती है। यह शरीर तो आरगन्स हैं जो विनाश हो जाते हैं। संस्कार अच्छे वा बुरे आत्मा में भरे जाते हैं। बाप में भी संस्कार भरे हुए हैं – सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त की नॉलेज के, इसलिए उनको नॉलेजफुल कहा जाता है। बाबा राइट कर समझाते हैं – 84 का चक्र बिल्कुल सहज है। अभी 84 का चक्र पूरा हुआ है। अभी हमको वापिस बाप के पास जाना है। मैली आत्मा तो वहाँ जा न सके। तुम्हारी आत्मा पवित्र हो जायेगी तो फिर यह शरीर छूट जायेगा। पवित्र शरीर तो यहाँ मिल न सके। यह पुरानी जुत्ती है, इनसे वैराग्य आता जा रहा है। आत्मा को पवित्र बन फिर भविष्य में हमको पवित्र शरीर लेना है। सतयुग में हम आत्मा और शरीर दोनों पवित्र थे। इस समय तुम्हारी आत्मा अपवित्र बन गई है तो शरीर भी अपवित्र है। जैसा सोना वैसा जेवर। गवर्मेन्ट भी कहती है हल्के सोने का जेवर पहनो। उसका भाव कम है। अभी तुम्हारी आत्मा की भी वैल्यु कम है। वहाँ तुम्हारी आत्मा की कितनी वैल्यु रहती है। सतोप्रधान है ना। अभी है तमोप्रधान। खाद पड़ी है, कोई काम की नहीं है। वहाँ आत्मा पवित्र है, तो बहुत वैल्यु है। अभी 9 कैरेट बन गई है तो कोई वैल्यु नहीं है इसलिए बाप कहते हैं आत्मा को पवित्र बनाओ तो फिर शरीर भी पवित्र मिलेगा। यह ज्ञान और कोई दे न सके।

बाप ही कहते हैं मामेकम् याद करो। कृष्ण कैसे कहेंगे। वह तो देहधारी है ना। बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझ मुझ बाप को याद करो। कोई देहधारी को याद न करो। अभी तुम समझते हो तो फिर समझाना है। शिवबाबा है निराकार, उनका अलौकिक जन्म है। तुम बच्चों को भी अलौकिक जन्म देते हैं। अलौकिक बाप अलौकिक बच्चे। लौकिक, पारलौकिक और अलौकिक कहा जाता है। तुम बच्चों को अलौकिक जन्म मिलता है। बाप तुमको एडाप्ट कर वर्सा देते हैं। तुम जानते हो हम ब्राह्मणों का भी अलौकिक जन्म है। अलौकिक बाप से अलौकिक वर्सा मिलता है। ब्रह्माकुमार-कुमारियों बिगर और कोई स्वर्ग का मालिक बन न सके। मनुष्य कुछ भी समझते नहीं। तुमको बाप कितना समझाते हैं। आत्मा जो अपवित्र बनी है वह सिवाए याद के पवित्र बन नहीं सकती। याद में नहीं रहेंगे तो खाद रह जायेगी। पवित्र बन नहीं सकेंगे फिर सज़ायें खानी पड़ेंगी। सारी दुनिया की मनुष्य आत्माओं को पवित्र बन वापिस जाना है। शरीर तो नहीं जायेगा। बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझना कितना मुश्किल रहता है। धन्धे आदि में वह अवस्था थोड़ेही रहती है। बाप कहते हैं अच्छा अपने को आत्मा नहीं समझते हो तो शिवबाबा को याद करो। धंधा आदि करते यही मेहनत करो कि मैं आत्मा इस शरीर से काम करती हूँ। मैं आत्मा ही शिवबाबा को याद करती हूँ। आत्मा ही पहले-पहले पवित्र थी, अब फिर पवित्र बनना है। यह है मेहनत। इसमें बड़ी जबरदस्त कमाई है। यहाँ कितने भी साहूकार हैं, अरब-खरब हैं परन्तु वह सुख नहीं है। सबके सिर पर दु:ख हैं। बड़े-बड़े राजायें, प्रेजीडेन्ट आदि आज हैं, कल उनको मार देते। विलायत में क्या-क्या होता रहता है। साहूकारों पर, राजाओं पर तो मुसीबत है। यहाँ भी जो राजायें थे वह प्रजा बन गये हैं। राजाओं पर फिर प्रजा का राज्य हो गया है। ड्रामा में ऐसे नूँध है। पिछाड़ी में ही यह हाल होता है। बहुत ही आपस में लड़ते रहेंगे। तुम जानते हो कल्प पहले भी ऐसे हुआ था। तुम गुप्त वेष में दिल व जान, सिक व प्रेम से अपना गँवाया हुआ राज्य लेते हो। तुमको पहचान मिली है – हम तो मालिक थे, सूर्यवंशी देवतायें थे। अभी फिर वह बनने के लिए पुरूषार्थ कर रहे हो क्योंकि यहाँ तुम सत्य नारायण की कथा सुन रहे हो ना। बाप द्वारा हम नर से नारायण कैसे बनें? बाप आकर राजयोग सिखलाते हैं। भक्ति मार्ग में यह कोई सिखला न सके। कोई भी मनुष्य को बाप, टीचर, गुरू नहीं कहेंगे। भक्ति में कितनी पुरानी कहानियाँ बैठ सुनाते हैं। अब तुम बच्चों को 21 जन्म विश्राम पाने के लिए पावन तो जरूर बनना पड़े।

बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझो। आधाकल्प तो ड्रामा अनुसार देह-अभिमानी हो रहते हो, अब देही-अभिमानी बनना है। ड्रामा अनुसार अब पुरानी दुनिया को बदल नया बनना है। दुनिया तो एक ही है। पुरानी दुनिया से फिर नई बनेगी। नई दुनिया में नया भारत था तो उसमें देवी-देवता थे, कैपीटल भी जानते हो, जमुना का कण्ठा था, जिसको परिस्तान भी कहते थे। वहाँ नैचुरल ब्युटी रहती है। आत्मा पवित्र बन जाती है तो पवित्र आत्मा को शरीर भी पवित्र मिलता है। बाप कहते हैं मैं आकर तुमको हसीन सो देवी-देवता बनाता हूँ। तुम बच्चे अपनी जांच करते रहो, कोई हमारे में अवगुण तो नहीं है? याद में रहते हैं? पढ़ाई भी पढ़नी है। यह है बहुत बड़ी पढ़ाई। एक ही पढ़ाई है, उस पढ़ाई में तो कितने किताब आदि पढ़ते हैं। यह पढ़ाई है ऊंच ते ऊंच, पढ़ाने वाला भी है ऊंच ते ऊंच शिवबाबा। ऐसे नहीं कि शिवबाबा कोई इस दुनिया का मालिक है। विश्व के मालिक तो तुम बनते हो ना। कितनी नई-नई गुह्य बातें तुमको सुनाते रहते हैं। मनुष्य समझते हैं परमात्मा सृष्टि का मालिक है। बाप समझाते हैं – मीठे-मीठे बच्चों, मैं इस सृष्टि का मालिक नहीं हूँ। तुम मालिक बनते हो और फिर राज्य गँवाते हो। फिर बाप आकर विश्व का मालिक बनाते हैं। विश्व इसको ही कहा जाता है। मूलवतन वा सूक्ष्मवतन की बात नहीं है। मूलवतन से तुम यहाँ आकर 84 जन्म का चक्र लगाते हो। फिर बाप को आना पड़ता है। अभी फिर तुमको पुरूषार्थ कराता हूँ – वह प्रालब्ध पाने के लिए, जो तुमने गँवाई है। हार और जीत का खेल है ना। यह रावण राज्य खलास होना है। बाप कितना सहज रीति समझाते हैं। बाप खुद बैठ पढ़ाते हैं। वहाँ तो मनुष्य, मनुष्य को पढ़ाते हैं। हो तुम भी मनुष्य परन्तु बाप तुम आत्माओं को बैठ पढ़ाते हैं। पढ़ाई के संस्कार आत्मा में ही रहते हैं। अभी तुम बहुत नॉलेजफुल हो, वह सब है भक्ति की नॉलेज। कमाई के लिए भी नॉलेज है। शास्त्रों की भी नॉलेज है। यह है रूहानी नॉलेज। तुम्हारी रूह को रूहानी बाप बैठ नॉलेज सुनाते हैं। 5 हज़ार वर्ष पहले भी तुमने सुनी थी। सारे मनुष्य सृष्टि भर में ऐसे कभी कोई पढ़ाता नहीं होगा। किसको भी पता नहीं, ईश्वर कैसे पढ़ाते हैं?

तुम बच्चे जानते हो अभी इस पढ़ाई से किंगडम स्थापन हो रही है। जो अच्छी रीति पढ़ते और श्रीमत पर चलते हैं वह हाइएस्ट बनते हैं और जो बाप की जाए निंदा कराते हैं, हाथ छोड़ जाते हैं वह प्रजा में बहुत कम पद पाते हैं। बाप तो एक ही पढ़ाई पढ़ाते हैं। पढ़ाई में कितनी मार्जिन है। डीटी किंगडम थी ना। एक ही बाप है जो यहाँ आकर किंगडम स्थापन करते हैं। बाकी यह सब विनाश हो जाना है। बाप कहते हैं – बच्चे, अब जल्दी तैयारी करो। ग़फलत में टाइम वेस्ट नहीं करो। याद नहीं करते हैं तो मोस्ट वैल्युबुल टाइम नुकसान होता है। शरीर निर्वाह अर्थ धंधा आदि भल करो फिर भी हथ कार डे दिल यार डे। बाप कहते हैं मुझे याद करो तो राजाई तुमको मिल जायेगी। खुदा दोस्त की कहानी भी सुनी है ना। अल्लाह अवलदीन का भी नाटक दिखाते हैं। ठका करने से खजाना निकल आया। अभी तुम बच्चे जानते हो – अल्लाह तुमको ठका करने से क्या से क्या बनाते हैं। झट दिव्य दृष्टि से वैकुण्ठ चले जाते हो। आगे बच्चियां आपस में मिलकर बैठती थी, फिर आपेही चली जाती थी ध्यान में। फिर जादू कह देते थे। तो वह बंद कर दिया। तो यह सब बातें हैं इस समय की। हातमताई की भी कहानी है। मुहलरा मुख में डालते थे तो माया गुम हो जाती थी। मुहलरा निकालने से माया आ जाती थी। रहस्य तो कोई समझ न सके। बाप कहते हैं बच्चे मुख में मुहलरा डाल दो। तुम शान्ति के सागर हो, आत्मा शान्ति में अपने स्वधर्म में रहती है। सतयुग में भी जानते हैं कि हम आत्मा हैं। बाकी परमात्मा बाप को कोई भी नहीं जानते। कभी भी कोई पूछे – बोलो वहाँ विकार का नाम नहीं है। है ही वाइसलेस वर्ल्ड। 5 विकार वहाँ होते ही नहीं। देह-अभिमान ही नहीं। माया के राज्य में देह-अभिमानी बनते हैं, वहाँ होते ही हैं मोहजीत। इस पुरानी दुनिया से नष्टोमोहा होना है। वैराग्य तो उनको आता है जो घरबार छोड़ते हैं। तुमको तो घरबार नहीं छोड़ना है। बाप की याद में रहते यह पुराना शरीर छोड़कर जाना है। सबका हिसाब-किताब चुक्तू होना है। फिर चले जायेंगे घर। यह कल्प-कल्प होता है। तुम्हारी बुद्धि अभी दूर-दूर ऊपर जाती है, वो लोग देखते हैं कहाँ तक सागर है? सूर्य-चांद में क्या है? आगे समझते थे यह देवतायें हैं। तुम कहते हो यह तो माण्डवे की बत्तियां हैं। यहाँ खेल होता है। तो यह बत्तियां भी यहाँ हैं। मूलवतन, सूक्ष्मवतन में यह होती नहीं। वहाँ खेल ही नहीं। यह अनादि खेल चला आता है। चक्र फिरता रहता है, प्रलय होती नहीं। भारत तो अविनाशी खण्ड है, इसमें मनुष्य रहते ही हैं, जलमई होती नहीं। पशू-पक्षी आदि जो भी हैं, सब होंगे। बाकी जो भी खण्ड हैं, वह सतयुग-त्रेता में रहते नहीं। तुमने जो कुछ दिव्य दृष्टि से देखा है, वह फिर प्रैक्टिकल में देखेंगे। प्रैक्टिकल में तुम वैकुण्ठ में जाकर राज्य करेंगे। जिसके लिए पुरूषार्थ करते रहते हो, फिर भी बाप कहते हैं याद की बड़ी मेहनत है। माया याद करने नहीं देती है। बहुत प्यार से बाबा को याद करना है। अज्ञान काल में भी प्यार से बाप की महिमा करते हैं। हमारा फलाना ऐसा था, फलाने मर्तबे वाला था। अभी तुम्हारी बुद्धि में सारा सृष्टि चक्र बैठा हुआ है। सब धर्मों की नॉलेज है। जैसे वहाँ रूहों का सिजरा है, यहाँ फिर मनुष्य सृष्टि का सिजरा है। ग्रेट-ग्रेट ग्रैन्ड फादर ब्रह्मा है। फिर है तुम्हारी बिरादरी। सृष्टि तो चलती रहती है ना।

बाप समझाते हैं – बच्चे, नर से नारायण बनना है तो तुम्हारी जो कथनी है, वही करनी हो। पहले अपनी अवस्था को देखना है। बाबा हम तो आपसे पूरा वर्सा लेकर ही छोड़ेंगे, तो वह चलन भी चाहिए। यह एक ही पढ़ाई है, नर से नारायण बनने की। यह तुमको बाप ही पढ़ाते हैं। राजाओं का राजा तुम ही बनते हो, और कोई खण्ड में होते नहीं। तुम पवित्र राजायें बनते हो, फिर बिगर लाइट वाले अपवित्र राजायें पवित्र राजाओं के मन्दिर बनाकर पूजा करते हैं। अभी तुम पढ़ रहे हो। स्टूडेन्ट टीचर को क्यों भूलते हैं! कहते हैं बाबा माया भुला देती है। दोष फिर माया पर रख देते हैं। अरे, याद तो तुमको करना है। मुख्य टीचर एक ही है, बाकी और सब हैं नायब टीचर्स। बाप को भूल जाते हो, अच्छा टीचर को याद करो। तुमको 3 चांस दिये जाते हैं। एक भूले तो दूसरे को याद करो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप से पूरा वर्सा लेने के लिए जो कथनी हो वही करनी हो, इसका पुरूषार्थ करना है। मोहजीत बनना है।

2) सदा याद रहे कि हम शान्ति के सागर के बच्चे हैं, हमें शान्ति में रहना है। मुख में मुहलरा डाल लेना है। ग़फलत में अपना टाइम वेस्ट नहीं करना है।

वरदान:- तड़फती हुई आत्माओं को एक सेकण्ड में गति-सद्गति देने वाले मास्टर दाता भव
जैसे स्थूल सीजन का इन्तजाम करते हो, सेवाधारी सामग्री सब तैयार करते हो जिससे किसी को कोई तकलीफ न हो, समय व्यर्थ न जाए। ऐसे ही अब सर्व आत्माओं की गति-सद्गति करने की अन्तिम सीजन आने वाली है, तड़फती हुई आत्माओं को क्यू में खड़ा करने का कष्ट नहीं देना है, आते जाएं और लेते जाएं। इसके लिए एवररेडी बनो। पुरूषार्थी जीवन में रहने से ऊपर अब दातापन की स्थिति में रहो। हर संकल्प, हर सेकण्ड में मास्टर दाता बन करके चलो।
स्लोगन:- हज़ूर को बुद्धि में हाज़िर रखो तो सर्व प्राप्तियां जी हज़ूर करेंगी।

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 24 JULY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 24 July 2019

To Read Murli 23 July 2019 :- Click Here
24-07-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाप की याद से बुद्धि स्वच्छ बनती है, दिव्यगुण आते हैं इसलिए एकान्त में बैठ अपने आपसे पूछो कि दैवीगुण कितने आये हैं?ˮ
प्रश्नः- सबसे बड़ा आसुरी अवगुण कौन-सा है, जो बच्चों में नहीं होना चाहिए?
उत्तर:- सबसे बड़ा आसुरी अवगुण है किसी से रफ-डफ बात करना या कटुवचन बोलना, इसे ही भूत कहा जाता है। जब कोई में यह भूत प्रवेश करते हैं तो बहुत नुकसान कर देते हैं इसलिए उनसे किनारा कर लेना चाहिए। जितना हो सके अभ्यास करो – अब घर जाना है फिर नई राजधानी में आना है। इस दुनिया में सब कुछ देखते हुए कुछ भी दिखाई न दे।

ओम् शान्ति। बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं, जाना तो है शरीर छोड़कर। इस दुनिया को भी भूल जाना है। यह भी एक अभ्यास है। जब कोई शरीर में खिटपिट होती है तो शरीर को भी कोशिश कर भूलना होता है तो दुनिया को भी भूलना होता है। भूलने का अभ्यास रहता है सुबह को। बस, अब वापिस जाना है। यह ज्ञान तो बच्चों को मिला है। सारी दुनिया को छोड़ अब घर जाना है। जास्ती ज्ञान की तो दरकार नहीं रहती। कोशिश कर उसी धुन में रहना है। भल शरीर को कितनी भी तकल़ीफ होती है, बच्चों को समझाया जाता है – कैसे अभ्यास करो। जैसेकि तुम हो ही नहीं। यह भी अच्छा अभ्यास है। बाकी थोड़ा समय है। जाना है घर, फिर बाप की मदद है या इनकी अपनी मदद है। मदद मिलती जरूर है और पुरूषार्थ भी करना होता है। यह जो कुछ देखने में आता है, वह है नहीं। अब घर जाना है। वहाँ से फिर अपनी राजधानी में आना है। पिछाड़ी में यह दो बातें जाकर रहती हैं – जाना है फिर आना है। देखा जाता है इस याद में रहने से शरीर के रोग जो तंग करते हैं, वह भी ऑटोमेटिकली ठण्डे हो जाते हैं। वह खुशी रह जाती है। खुशी जैसी खुराक नहीं इसलिए बच्चों को भी यह समझाना पड़ता है। बच्चे, अब घर चलना है, स्वीट होम में चलना है, इस पुरानी दुनिया को भूल जाना है। इसको कहा जाता है याद की यात्रा। अभी ही बच्चों को मालूम पड़ता है। बाप कल्प-कल्प आते हैं, यही सुनाते हैं कल्प बाद फिर मिलेंगे। बाप कहते हैं – बच्चे, अभी तुम जो सुनते हो, फिर कल्प बाद भी यही सुनेंगे। यह तो बच्चे जानते हैं, बाप कहते हैं – हम कल्प-कल्प आकर बच्चों को मार्ग बताता हूँ। मार्ग पर चलना बच्चों का काम है। बाप आकर मार्ग बताते हैं, साथ में ले जाते हैं। सिर्फ मार्ग नहीं बताते लेकिन साथ में ले भी जाते हैं। यह भी समझाया जाता है – यह जो चित्र आदि हैं, पिछाड़ी में कुछ भी काम नहीं आते। बाप ने अपना परिचय दे दिया है। बच्चे समझ जाते हैं बाप का वर्सा बेहद की बादशाही है। जो कल मन्दिरों में जाते थे, महिमा गाते थे इन बच्चों (लक्ष्मी-नारायण) की, बाबा तो इन्हों को भी बच्चे-बच्चे कहेंगे ना, जो उन्हों के ऊंच बनने की महिमा गाते थे, अब फिर ऊंच बनने का पुरूषार्थ करते हैं। शिवबाबा के लिए नई बात नहीं। तुम बच्चों के लिए नई बात है। युद्ध के मैदान में तो बच्चे हैं। संकल्प-विकल्प भी इन्हें तंग करेंगे। यह खाँसी भी इनके कर्म का हिसाब-किताब है, इनको भोगना है। बाबा तो मौज में है, इनको कर्मातीत बनना है। बाप तो है ही सदा कर्मातीत अवस्था में। हम तुम बच्चों को माया के तूफान आदि कर्मभोग आयेंगे। यह समझाना चाहिए। बाप तो रास्ता बताते हैं, बच्चों को सब कुछ समझाते हैं। इस रथ को कुछ होता है तो तुमको फीलिंग आयेगी कि दादा को कुछ हुआ है। बाबा को कुछ नहीं होता, इनको होता है। ज्ञान मार्ग में अन्धश्रद्धा की बात नहीं होती। बाप समझाते हैं मैं किस तन में आता हूँ। बहुत जन्मों के अन्त के पतित तन में मैं प्रवेश करता हूँ। दादा भी समझते हैं जैसे और बच्चे हैं, मैं भी हूँ। दादा पुरूषार्थी है, सम्पूर्ण नहीं है। तुम सब प्रजापिता ब्रह्मा के बच्चे ब्राह्मण पुरूषार्थ करते हो, विष्णु पद पाने। लक्ष्मी-नारायण कहो, विष्णु कहो, बात तो एक ही है। बाप ने समझाया भी है आगे नहीं समझते थे। न ब्रह्मा-विष्णु-शंकर को, न अपने आप को समझते थे। अभी तो बाप को, ब्रह्मा-विष्णु-शंकर को देखने से बुद्धि में आता है – यह ब्रह्मा तपस्या करते हैं। यही सफेद ड्रेस है। कर्मातीत अवस्था भी यहाँ होती है। इनएडवान्स तुमको साक्षात्कार होता है – यह बाबा फरिश्ता बनेंगे। तुम भी जानते हो हम कर्मातीत अवस्था को पाकर फरिश्ता बनेंगे नम्बरवार। जब तुम फरिश्ते बनते हो तब समझते हो कि अब लड़ाई लगेगी। मिरूआ मौत……. यह बहुत ऊंच अवस्था है। बच्चों को धारणा करनी है। यह भी निश्चय है कि हम चक्र लगाते हैं। और कोई इन बातों को समझ न सके। नया ज्ञान है और फिर पावन बनने के लिए बाप याद सिखाते हैं, यह भी समझते हो बाप से वर्सा मिलता है। कल्प-कल्प बाप के बच्चे बनते हैं, 84 का चक्र लगाया है। कोई को भी तुम समझाओ तुम आत्मा हो, परमपिता परमात्मा बाप है, अब बाप को याद करो। तो उनकी बुद्धि में आयेगा दैवी प्रिन्स बनना है तो इतना पुरूषार्थ करना है। विकार आदि सब छोड़ देना है। बाप समझाते हैं बहन-भाई भी नहीं, भाई-भाई समझो और बाप को याद करो तो विकर्म विनाश होंगे और कोई तकलीफ नहीं है। पिछाड़ी में और कोई बातों की दरकार नहीं पड़ेगी। सिर्फ बाप को याद करना है, आस्तिक बनना है। ऐसा सर्वगुण सम्पन्न बनना है। लक्ष्मी-नारायण का चित्र बड़ा एक्यूरेट है। सिर्फ बाप को भूल जाने से दैवी गुण धारण करना भी भूल जाते हैं। बच्चे एकान्त में बैठ विचार करो – बाबा को याद करके हमको यह बनना है, यह गुण धारण करना है। बात तो बहुत छोटी है। बच्चों को कितनी मेहनत करनी पड़ती है। कितना देह-अभिमान आ जाता है। बाप कहते हैं “देही-अभिमानी भवˮ। बाप से ही वर्सा लेना है। बाप को याद करेंगे तब तो किचड़ा निकलेगा।

बच्चे जानते हैं अभी बाबा आया हुआ है। ब्रह्मा द्वारा नई दुनिया की स्थापना करते हैं। तुम बच्चे जानते हो स्थापना हो रही है। इतनी सहज बात भी तुमसे खिसक जाती है। एक अल़फ है, बेहद के बाप से बादशाही मिलती है। बाप को याद करने से नई दुनिया याद आ जाती है। अबलायें-कुब्जायें भी बहुत अच्छा पद पा सकती हैं। सिर्फ अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। बाप ने तो रास्ता बताया है। कहते हैं – अपने को आत्मा निश्चय करो। बाप की पहचान तो मिली। बुद्धि में बैठ जाता है अब 84 जन्म पूरे हुए, घर जायेंगे फिर आकर स्वर्ग में पार्ट बजायेंगे। यह प्रश्न नहीं उठता कि कहाँ याद करूँ, कैसे करुँ? बुद्धि में है कि बाप को याद करना है। बाप कहाँ भी जाये, तुम तो उनके ही बच्चे हो ना। बेहद के बाप को याद करना है। यहाँ बैठे हो तो तुमको आनन्द आता है। सम्मुख बाप से मिलते हो। मनुष्य मूँझ जाते हैं कि शिवबाबा की जयन्ती कैसे होगी! यह भी समझते नहीं कि शिवरात्रि क्यों कहा जाता है? कृष्ण के लिए समझते हैं ना रात को जयन्ती होती है परन्तु इस रात्रि की बात नहीं। वह आधा कल्प की रात पूरी होती है फिर बाप को आना पड़ता है नई दुनिया की स्थापना करने, है बहुत सहज। बच्चे खुद समझते हैं – सहज है। दैवी गुण धारण करने हैं। नहीं तो सौ गुणा पाप हो जाता है। मेरी निन्दा कराने वाले ऊंच ठौर नहीं पा सकेंगे। बाप की निन्दा करायेंगे तो पद भ्रष्ट हो जायेगा। बहुत मीठा बनना चाहिए। रफ-डफ बात करना – यह दैवीगुण नहीं है। समझना चाहिए यह आसुरी अवगुण है। प्यार से समझाना होता है – यह तुम्हारा दैवी गुण नहीं है। यह भी बच्चे जानते हैं अभी कलियुग पूरा होता है, यह है संगमयुग। मनुष्यों को तो कुछ पता नहीं है। कुम्भकरण की नींद में सोये पड़े हैं। समझते हैं 40 हज़ार वर्ष पड़े हैं। हम जीते रहेंगे, सुख भोगते रहेंगे। यह नहीं समझते दिन-प्रतिदिन और ही तमोप्रधान बनते हैं। तुम बच्चों ने विनाश का साक्षात्कार भी किया है! आगे चलकर ब्रह्मा का, कृष्ण का भी साक्षात्कार करते रहेंगे। ब्रह्मा के पास जाने से तुम स्वर्ग का ऐसा प्रिन्स बनेंगे इसलिए अक्सर करके ब्रह्मा और कृष्ण दोनों के साक्षात्कार होते हैं। कोई को विष्णु का होता है। परन्तु उनसे इतना समझ नहीं सकेंगे। नारायण का होने से समझ सकते हैं। यहाँ हम जाते ही हैं देवता बनने के लिए। तो तुम अभी सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का पाठ पढ़ते हो। पाठ पढ़ाया जाता है याद के लिए। पाठ आत्मा पढ़ती है। देह का भान उतर जाता है। आत्मा ही सब कुछ करती है। अच्छे अथवा बुरे संस्कार आत्मा में ही होते हैं।

तुम मीठे-मीठे बच्चे 5 हज़ार वर्ष के बाद आकर मिले हो। तुम वही हो। फीचर्स भी वही हैं, 5 हज़ार वर्ष पहले भी तुम ही थे। तुम भी कहते हो 5 हज़ार वर्ष बाद आप वही आकर मिले हो, जो हमको मनुष्य से देवता बना रहे हो। हम देवता थे फिर असुर बन पड़े हैं। देवताओं के गुण गाते आये, अपने अवगुण वर्णन करते आये। अब फिर देवता बनना है क्योंकि दैवी दुनिया में जाना है। तो अब अच्छी रीति पुरूषार्थ कर ऊंच पद पाओ। टीचर तो सबको कहेंगे ना, पढ़ो। अच्छी मार्क्स में पास हो तो हमारा भी नाम बाला और तुम्हारा भी नाम बाला होगा। ऐसे बहुत कहते हैं – बाबा, आपके पास आने से कुछ निकलता ही नहीं। सब भूल जाते हैं। आने से ही चुप हो जायेंगे। यह दुनिया जैसे कि खत्म हुई पड़ी है। फिर तुम आयेंगे नई दुनिया में। वह तो बड़ी शोभनिक नई दुनिया होगी। कोई शान्तिधाम में विश्राम पाते हैं। कोई को विश्राम नहीं मिलता है। आलराउण्ड पार्ट है। परन्तु तमोप्रधान दु:ख से छूट जाते हैं। वहाँ शान्ति, सुख सब मिल जाता है। तो ऐसे अच्छी रीति पुरूषार्थ करना चाहिए। ऐसे नहीं कि जो नसीब में होगा। नहीं, पुरूषार्थ करना चाहिए। समझा जाता है कि राजधानी स्थापन हो रही है। हम श्रीमत पर अपने लिए राजधानी स्थापन कर रहे हैं। बाबा जो श्रीमत देने वाला है वह खुद राजा आदि नहीं बना है। उनकी श्रीमत से हम बनते हैं। नई बात है ना। कभी कोई ने न तो सुनी, न देखी। अभी तुम बच्चे समझते हो श्रीमत पर हम बैकुण्ठ की बादशाही स्थापन करते हैं। हमने अनगिनत बार राजाई स्थापन की है। करते और गँवाते हैं। यह चक्र फिरता ही रहता है। पादरी लोग जब चक्र लगाने निकलते हैं तो और कोई को देखना भी पसन्द नहीं करते हैं। सिर्फ क्राइस्ट की ही याद में रहते हैं। शान्ति में चक्र लगाते हैं। समझ है ना। क्राइस्ट की याद में कितना रहते हैं। जरूर क्राइस्ट का साक्षात्कार हुआ होगा। सब पादरी ऐसे थोड़ेही होते हैं। कोटों में कोई, तुम्हारे में भी नम्बरवार हैं। कोटों में कोई ऐसी याद में रहते होंगे। ट्राई करके देखो। और कोई को नहीं देखो। बाप को याद करते स्वदर्शन चक्र फिराते रहो। तुमको अथाह खुशी होगी। श्रेष्ठाचारी देवताओं को कहा जाता है, मनुष्यों को भ्रष्टाचारी कहा जाता है। इस समय तो देवता कोई है नहीं। आधाकल्प दिन, आधा-कल्प रात – यह भारत की ही बात है। बाप कहते हैं मैं आकर सबकी सद्गति करता हूँ, बाकी जो और धर्म वाले हैं, वह अपने-अपने समय पर अपने धर्म की आकर स्थापना करते हैं। सब आकर यह मंत्र ले जाते हैं। बाप को याद करना है, जो याद करेंगे वह अपने धर्म में ऊंच पद पायेंगे।

तुम बच्चों को पुरूषार्थ करके रूहानी म्युज़ियम अथवा कॉलेज खोलने चाहिए। लिख दो – विश्व की अथवा स्वर्ग की राजाई सेकण्ड में कैसे मिल सकती है, आकर समझो। बाप को याद करो तो बैकुण्ठ की बादशाही मिलेगी। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) चलते-फिरते एक बाप की ही याद रहे और कुछ देखते हुए भी दिखाई न दे – ऐसा अभ्यास करना है। एकान्त में अपनी जाँच करनी है कि हमारे में दैवीगुण कहाँ तक आये हैं?

2) ऐसा कोई कर्त्तव्य नहीं करना है, जिससे बाप की निन्दा हो, दैवीगुण धारण करने हैं। बुद्धि में रहे – अभी घर जाना है फिर अपनी राजधानी में आना है।

वरदान:- स्वार्थ से न्यारे और संबंधों में प्यारे बन सेवा करने वाले सच्चे सेवाधारी भव
जो सेवा स्वयं को वा दूसरों को डिस्टर्व करे वो सेवा नहीं है, स्वार्थ है। निमित्त कोई न कोई स्वार्थ होता है तब नीचे ऊपर होते हो। चाहे अपना चाहे दूसरे का स्वार्थ जब पूरा नहीं होता है तब सेवा में डिस्ट्रबेन्स होती है इसलिए स्वार्थ से न्यारे और सर्व के संबंध में प्यारे बनकर सेवा करो तब कहेंगे सच्चे सेवाधारी। सेवा खूब उमंग-उत्साह से करो लेकिन सेवा का बोझ स्थिति को कभी नीचे-ऊपर न करे यह अटेन्शन रखो।
स्लोगन:- शुभ वा श्रेष्ठ वायब्रेशन द्वारा निगेटिव सीन को भी पॉजिटिव में बदल दो।

TODAY MURLI 24 JULY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 24 July 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 23 July 2019:- Click Here

24/07/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, your intellects become clean with the power of remembrance and you also imbibe divine virtues. Therefore, sit in solitude and ask yourselves how many divine virtues you have developed.
Question: What is a very great devilish defect which you children should not have?
Answer: It is a very great devilish defect to speak in a rough or harsh manner to someone. This is also called an evil spirit. When this evil spirit enters someone, it causes a lot of damage and you therefore have to step away from that. As much as possible, practise: I now have to return home and go into the new kingdom. While seeing everything in this world, you should not see anything.

Om shanti. The Father sits here and explains to you children that you have to shed your bodies and then return home. You also have to forget this world. This too is a practice. When there are complications of the body, you have to try and forget your body and also forget the world. The practice of forgetting should be done in the morning. I now have to return home, that is all. You children have received the knowledge that you have to renounce the whole world and return home. There is no need for a lot of knowledge. You have to try and stay in that concern. No matter how much difficulty your bodies have, it has been explained to you children how to practise this. It is as though you don’t exist. This too is a good practice. There is now little time left. We now have to return home. You have the Father’s help and this one’s help. You definitely do receive help, but you also have to make your own effort. Whatever you can see does not exist. You now have to return home. You then have to go into your own kingdom. At the end, there are just these two things that remain: You have to go and come. It has been seen that, by your staying in remembrance, the illnesses of the body that used to trouble you become less automatically and just happiness remains. There is no nourishment like happiness. Therefore, it has to be explained to you children: Children, you now have to return home. You have to go to your sweet home. You have to forget this old world. This is called the pilgrimage of remembrance. It is only now that you children know about this. The Father comes every cycle. He says the same thing, that He will meet you again after another cycle. The Father says: Children, whatever you are listening to now, you will listen to the same thing after a cycle. You children know that the Father says: I come every cycle and show you children the path. It is the duty of you children to follow that path. The Father comes and shows you the path and also takes you back with Him. He doesn’t just show you the path, but He also takes you back with Him. It has also been explained to you that these pictures etc. will be of no use at the end. The Father has given you His own introduction. You children understand that the Father’s inheritance is the unlimited sovereignty. Those who used to go to the temples yesterday and sing the praise of these children (Lakshmi and Narayan) – Baba would call them “Children, children” anyway – they used to sing praise of them becoming so elevated and they are now making effort once again to become elevated. This is not anything new for Shiv Baba. It is something new for you children. It is you children who are on the battlefield. It is you who are troubled by negative and wasteful thoughts. This cough is also this one’s karmic account which he has to suffer. Baba is in a state of pleasure. This one has to become karmateet. The Father is always in the karmateet stage. It is I and you children who experience storms of Maya etc. and suffering of karma. This has to be explained. The Father shows you the path. He explains everything to you children. When something happens to this chariot, you have the feeling that something has happened to Dada. Nothing happens to Baba; it happens to this one. There is no blind faith on the path of knowledge. The Father explains which body He enters. I enter this impure body at the end of the last of his many births. Dada also understands that he too is a child like the other children. Dada is also an effort-maker; he is not perfect. All of you Brahmin children of Prajapita Brahma are making effort to attain the Vishnu status. Whether you say Lakshmi and Narayan or Vishnu, it is the same thing. The Father has explained to you, whereas, previously, you didn’t understand anything. You neither understood about Brahma, Vishnu and Shankar nor your own selves. Now, when you see the Father and Brahma, Vishnu and Shankar, it enters your intellects that this Brahma is doing tapasya. He is in the same white dress. It is here that you have the karmateet stage. You have visions in advancethis Baba will become an angel. You also know that you will attain your karmateet stage and become angels, numberwise. You understand that when you become angels the war will begin. It is said: “Death to the prey and happiness for the hunter”. This is a very high stage. You children have to imbibe knowledge. You have the faith that you go around the cycle. No one else can understand these things. This is new knowledge and the Father teaches you remembrance in order for you to become pure. You also understand that you receive the inheritance from the Father. You become the Father’s children every cycle. You have been around the cycle of 84 births. Explain to anyone that you are souls and that the Supreme Father, the Supreme Soul, is the Father. Now remember that Father. It will then enter that one’s intellect that he now has to become a divine prince and that he also has to make that much effort. You have to renounce all the vices etc. The Father explains: Do not even consider yourselves to be brothers and sisters, but consider yourselves to be brothers and remember the Father and your sins will be absolved. There is no other difficulty. At the end, there will be no need for anything else. You simply have to remember the Father. You have to become theists. You have to become full of all virtues like them. The picture of Lakshmi and Narayan is very accurate. By simply forgetting the Father, you even forget to imbibe divine virtues. Children, sit in solitude and think about this: I have to remember Baba and become like them. I have to imbibe those virtues. It is a very small thing. You children have to make so much effort. Some children become so body conscious. The Father says: May you be soul conscious! You have to claim your inheritance from the Father. If you remember the Father, the rubbish will be removed. You children know that Baba has now come. He establishes the new world through Brahma. You children know that establishment is taking place. Such a simple matter slips away from you. There is just the one Alpha and you receive the sovereignty from that unlimited Father. By remembering the Father, you remember the new world. Innocent, hunchbacked mothers can also claim a very good status. You simply have to consider yourself to be a soul and remember the Father. The Father has shown you the path. He says: Have the faith that you are a soul. You have received the Father’s introduction. It has now sat in your intellects that you have completed 84 births and that you will now go home and then go and play your parts in heaven. The question doesn’t arise: Where should I remember Baba? How can I remember Him? It is in your intellects that you have to remember the Father. No matter where the Father goes, you are still His children. You have to remember the unlimited Father. When you sit here, you experience bliss because you meet the Father personally, face to face. People become confused about how there can be the birth of Shiv Baba. They don’t understand why it is called the night of Shiva. For Krishna, they understand that his birth took place at night, but it is not a question of this (limited) night. The night of half the cycle comes to an end and so the Father then has to come to establish the new world. It is very easy. You children understand for yourselves that this is very easy. You have to imbibe divine virtues. Otherwise, one hundred-fold sin will be accumulated. Those who cause defamation of Me cannot claim a high status. If you have the Father defamed, your status will be destroyed. You have to become very sweet. To speak roughly is not a divine virtue. You should understand that that is a devilish trait. You have to explain with love: That is not a divine virtue. You children know that the iron age is coming to an end. This is the confluence age. People don’t know anything. They are sleeping in the sleep of Kumbhakarna. They believe that they still have 40,000 years and that they will continue to live and experience happiness. They don’t understand that, day by day, they are becoming more and more tamopradhan. You children have had visions of destruction. As you progress further, you will also have visions of Brahma and Krishna: By going to Brahma, you will become a prince of heaven like that one. This is why people generally have a vision of both Brahma and Krishna. Some have a vision of Vishnu, but they aren’t able to understand as much from that vision. By having a vision of Narayan, they can understand something. We come here in order to become deities. You are now studying the lesson of the beginning, middle and end of the world. A lesson is taught to you so that you can have remembrance. It is the soul that studies. The consciousness of the body is removed. It is the soul that does everything. Good and bad sanskars are in the soul. You sweetest children have come and met Me after 5000 years. You are the same ones. You have the same features. You are the same ones of 5000 years ago. You also say: Baba, You are the same One who has come and met us after 5000 years and You are now changing us from human beings into deities. We were deities and we then became devils. You have been singing praise of the deities and speaking of your own defects. You now have to become deities again because you have to go to the deity world. Therefore, now make very good effort and claim a high status. A teacherwould tell everyone to study and would say: If you pass with good marks, my name will be glorified and your name will also be glorified. Many children say: Baba, when I come to You, nothing emerges from inside; I forget everything. As soon as you come to Baba, you become quiet. It is as though this world is finished. You will then go to the new world. That will be a very beautiful new world. Some receive rest in the land of peace. Some don’t receive any rest; they have allround parts. However, they become liberated from being tamopradhan and experiencing sorrow. They then receive peace and happiness there. So, you should make effort so well. Do not think that you will receive whatever is in your destiny. No, you have to make effort. It can be understood that a kingdom is being established. We are establishing a kingdom for ourselves by following shrimat. Baba who gives us shrimat never becomes a king etc. We become that by following His shrimat. This is something new. No one has ever heard this before or even seen it. You children understand that you are now establishing the sovereignty of Paradise by following shrimat. We have established the kingdom countless times. We claim it and then lose it. This cycle continues to turn. When Christian priests go out for a walk, they don’t even like to look at other people. They simply stay in remembrance of Christ. They walk around in silence. They have that understanding. They stay in remembrance of Christ so much; they must surely have had a vision of Christ. Not all priests are like that; there are a handful out of multimillions. It is the same with you. Only a handful out of multimillions would stay in remembrance like that. Just try this and see. Do not look at anyone else. By remembering the Father and continuing to spin the discus of self-realisation, you will have a lot of happiness. Deities are said to be elevated and human beings are said to be degraded. At this time, no one is a deity. It is said of Bharat: It is the day for half the cycle and the night for half the cycle. The Father says: I come and grant everyone salvation. Those who belong to other religions come at their own times to establish their religions. Everyone who comes here takes this mantra back with them: You have to remember the Father. Those who remember Him will claim a high status in their religion. You children should make effort to open a spiritual museum or college. Just write: Come and understand how you can receive the kingdom of the world of heaven in a second. Remember the Father and you will receive the sovereignty of Paradise. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. While walking and moving around, let there be remembrance of only the one Father. Practise not seeing anything while seeing everything. Sit in solitude and check yourself: To what extent have I imbibed divine virtues?
  2. Do not perform any such actions that you would cause defamation of the Father. Imbibe divine virtues. Let it remain in your intellect: I now have to return home and then go into the kingdom.
Blessing: May you be a true server and stay beyond any selfish motives and be loving in all your relationships while serving.
Anyservice that disturbs you or others is not service, but selfishnessWhen there is some form of selfishness, even in name, there is fluctuation. When your own selfish motives or the selfish motives of others are not fulfilled there is thendisturbance in service. Therefore, stay beyond any selfish motives and be loving in all your relationships while serving and you will then be called true servers. Do service with a lot of zeal and enthusiasm, but do not let the burden of service make your stage fluctuate. Pay attention to this.
Slogan: With your pure and elevated vibrations, change negative scenes into positive.

*** Om Shanti ***

TODAY MURLI 24 JULY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 24 July 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 23 July 2018 :- Click Here

24/07/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, create new inventions for service. Expand service. The way to have success in service is to put the mothers ahead.
Question: With which manners should you speak in order to be able to prove words of authority?
Answer: 1) Whenever you speak to your elders, speak in the polite form, not in the familiar form. This is also manners. Speak with your authority, but definitely give respect. These m anners are also taught at school.
2) You should never speak with arrogance. Always remain cheerful with the intoxication of knowledge. A cheerful face does a lot of service.
Song: What has happened to the people of today? Audio Player

Om shanti. It has been explained to you sweetest children that many souls have become sinful. Good children call out: Sin has increased a lot. It is by committing sin that human beings become impure. People remember Him and say: O Purifier, come and make sinful souls charitable. This is the impure world and so there must also be a pure world. The incorporeal world is not called the pure world. That is the land of peace. The pure and impure worlds are for human beings. In the iron-aged world they are impure and in the golden-aged world they are pure. Only the Purifier Father establishes the pure world. Scholars and pundits created the scriptures and they have said that Vyas wrote them. The name of the One who spoke this should also be mentioned. People don’t know when the scriptures were created. You children know that there are no scriptures in the golden and silver ages. There is no name or trace of the path of devotion there. The Father keeps you alive with knowledge. You remain alive with knowledge for 21 births and then Maya comes and turns you into corpses. This is the world of corpses, which is called the graveyard (kabristhan). At this time it would be said to be a full graveyard. Everyone’s intellect should be working on this. In the great war it becomes a full graveyard. It is not like this in other wars. It is written in the Bhagawad: All the children of the Ocean of Knowledge are buried in the graveyard. Maya has made everyone sit on the pyre of lust and burnt them. All are buried in the graveyard. It is also mentioned in the Koran of the Muslims that all are in the graveyard. When it is the time of settlement, Allah comes to awaken them. He makes the graveyard into the land of angels (paristhan). Baba had told you that it is written in the Birla temple that Delhi was made into paristhan. Therefore, He would surely have made the graveyard into the land of angels. Annihilation doesn’t take place, but many people do die. There are very few human beings in the golden age. There is just the one original, eternal, deity religion there. The condition there is not like that described in the song. In heaven, no one causes anyone sorrow. Here, they cause so much sorrow; they even kill one another. Baba receives news. When someone falls in love with another man’s wife, he would even kill his own wife by poisoning her. This world is impure and this is why it is sung: O Purifier, come! However, they don’t consider themselves to be impure. If you tell people that they are impure, they would become upset. You now know that you too were impure. The Father is purifying you. You now have to tell the world that it is Shiv Baba who makes the impure world pure. The One whose birthday you celebrate has now come. Originally, it was the law that when a new invention was created, they first showed it to the king. He used to take it in his hands. Now, there are no kings. Show this invention to everyone. You should get together to pass a resolution. Get a petition signed by thousands and give that petition to the Government. In order to publicise an invention, it is shown to the highest authority. That authority then makes arrangements. So, you should also do the same. Explain about those whose birthdays are to come. If you explain on the day of someone’s festival, everyone will then understand and say: It truly seems right. The Father came 5000 years ago. Bharat that was the highest on high, the Golden Sparrow, has totally become worth a shell. The Supreme Father, the Supreme Soul, makes it like a diamond. He is giving you this knowledge through Brahma. You can explain: In fact, every human being is a Brahma Kumar or Kumari. This is the surname. The Brahmin religion is created through Brahma. Then, the whole genealogical tree is made up of deities, warriors, merchants and shudras. You can explain these festivals very well. Deepmala (festival of the rosary of lights) is coming close. You know that there is now extreme darkness in every home. When the Sun of Knowledge rises, the darkness of ignorance is dispelled. There is truly extreme darkness. Souls do not know their Father. Everyone’s light is lit by knowing the Father. He is also called the Flame. You can explain very well on such main festivals. You can also explain to the Government. You now especially have to move forward. Place the mothers at the front. Men should not be ashamed about this. The Father explains to you how you should awaken others. Get together, get a petition signed and then explain: In fact, each one of you is a child of Shiva. It isn’t that all are Shiva. The Father is only One. He is the Creator, the One who purifies the impure. A memorandum should be written. Show it to the main ones, the seniors. You awaken human beings, but they believe that human beings become pure by bathing in the Ganges. However, the Ganges is not the Purifier. The Purifier is only the one incorporeal One. He is the Ocean of Knowledge who showers knowledge. All the rest is blind faith. You children have now received authority. It is written in the scriptures that the kumaris were made to shoot arrows. Very good children can do this work; they can give lectures. It is numberwise in an army. Manners are needed in conversing with one another. When speaking to one’s elders, one always speaks in the polite form (aap, aap). However, instead of being respectful, uneducated children speak in familiar terms (tu, tu). Manners are imbibed by the intellect even through a study. Teachers are still good, in that they educate you and make you worthy of receiving a status. One’s character is also written in the register. Nowadays, people don’t have that much character. The world is completely dirty. You heard in the song what the condition has become. You children know that no other country can be like Bharat was. Bharat was heaven. Sannyasis say that all of this is your imagination. What do they know of heaven? Yes, some will emerge who will be very happy to see this. These pictures are very good. They make big statues of the Pandavas. They are not really that big. They make Ravan as tall as 100 feet. They continue to increase his size day by day. Ravan’s age has become old now. He is now 2500 years old. You can explain very well on the day of Dashera: This is Ravan’s kingdom. It is called the devil world. Someone printed in the papers that this is the devilish world. If people ask you why you call this the devilish kingdom, tell them: In the newspapers, so-and-so said that this is Ravan’s kingdom. When the Father came, He said: This is the devilish world. The deity kingdom exists in the golden age. You should get together and consult one other. Your aim and objective is clear. The aim and objective is also written outside on the board. There is no question of blind faith in a school. In all spiritual gatherings they listen to the Vedas etc. with blind faith. There is no meaning to those. The Father now says: O people of Bharat, for how long have you been studying all the big Vedas and Upanishads etc? You wouldn’t say that you have been doing that from the golden age. There is no trace of the path of devotion there. That is called a devotion cult. For half the cycle, there is the night of Brahma. That is when the path of devotion begins. God definitely comes because this is why Shiv Jayanti is celebrated. How else did that incorporeal One come? He would definitely have taken the support of a body. You know that the Father takes the support of the body of Brahma. He has to come in Bharat. The birth of the Father is in Bharat. The birth of Brahma is also in Bharat. Baba has explained the variety-form image to you. The Brahmin religion is the topknot. You exist now in a practical way. Shiv Baba, the Incorporeal, is above us Brahmins. Then, you have to show the body of Brahma. That one is Saraswati, then there is the Brahmin clan, then the deity clan, the warrior clan etc. They take this many births. You can show this very clearly and accurately : The night of Brahma, the night of Saraswati and the night of the dynasty of Brahma. In the day, all Brahmins become deities. You children are given many points which you have to imbibe. It should not be that you listen with one ear and let it out again through the other and everything is over, just as people listen to the stories when they go to spiritual gatherings and then depart. Here, you receive instant fruit. You know that, through this study, you have to change from human beings into deities. There is no aim or objective there. The Father explains a great deal but scarcely a few emerge. Some even become traitors. You should explain: This is a battlefield. Maya is very powerful. Some even fail. This is also a game in the drama. Not everyone can win. You children know that you are defeated by Maya, Ravan. This is a game of victory and defeat. Those who are defeated by Maya are defeated by everything. You know that you are becoming the masters of the world through Baba. You should have this intoxication permanently. Why does this intoxication break? You are studying with the Father who is the Creator of the world. You are becoming Narayan from an ordinary man and Lakshmi from an ordinary woman. It never happens that a student forgets his study or his teacher. So, why do you forget Him here? When you go home, you completely forget Him. Here, you have very good faith in the intellect. You shed so many tears, and then, when you go home from here, you don’t even write a letter! Even very special beloved children who come as guides forget everything. You should at least write service news: Baba, I am engaged in Your service. Otherwise, Baba would understand that Maya has buried you in the graveyard. The intellect also says: Such a Baba who makes you into the masters of the world should be remembered constantly. However, children don’t remember Him even once a month; they don’t write any letters to Him. Maya makes some of them into complete corpses. They don’t write a letter while alive, and so there is no question of them doing that when they have died. Baba would also write a letter when you write first. Those who remember Baba are the ones who will become karmateet and ever healthy. You should definitely remember Baba’s inheritance. You should also have permanent intoxication. At this time, you children sweeten your mouths with remembrance. You know that you are receiving the butter of the kingdom of the world. They show Krishna with butter in his mouth; that is the kingdom of the world. There are different levels of status of a master. To the extent that you do something, so you receive accordingly. You know that Baba is teaching you. He is called the Supreme Father. Therefore, you definitely receive the inheritance from the Father. The Mother and Father are needed because only then can children be born and the inheritance received. It is said: You are the Mother and Father and we are Your children. By Your teaching us easy Raja Yoga, we become the masters of heaven. You should explain that there truly were three armies. Those who had non-loving intellects at the time of destruction were destroyed. However, those who had love for God became the masters of heaven. It is our duty to tell the Government. You can get all the important officers who meet you to sign it and they will become happy. It is a very good task that you are carrying out. Make effort! One needs time for this too so that you are able to look after everything. There are many methods to increase service. However, children sometimes develop arrogance and lot of harm is caused when they have familiarity. Your faces should always remain cheerful with the intoxication of knowledge. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Make effort while keeping your aim and objective in front of you. Imbibe divine manners. Do not listen with one ear and let it out of the other.
  2. The Father, the Creator of the World, is teaching us and we are His students Maintain this intoxication. Create different methods of doing service and remain busy in that.
Blessing: May you be an embodiment of happiness while living in the world of sorrow by having the awareness of the Father, the Ocean of Happiness.
Constantly maintain the awareness of the Father, the Ocean of Happiness and you will become embodiments of happiness. No matter how much influence of sorrow and peacelessness there is in the world, you are loving and detached and with the Ocean of Happiness. Therefore, you are constantly happy and those who constantly swing in the swing of happiness. The children who are master oceans of happiness cannot even have any thoughts of sorrow because they have stepped away from the world of sorrow and reached the confluence age; all strings are broken. Therefore, continue to move along in the waves of the ocean of happiness.
Slogan: To stabilise the mind and intellect in a powerful stage is to be one in solitude.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 24 JULY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 24 July 2018

To Read Murli 23 July 2018 :- Click Here
24-07-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – सर्विस की नई-नई इन्वेन्शन निकालो, सेवा का विस्तार करो, सेवा के क्षेत्र में माताओं को आगे करना ही सफलता का साधन है”
प्रश्नः- किस मैनर्स के साथ बात करो तो अथॉरिटी के बोल तुम सिद्ध कर सकते हो?
उत्तर:- जब भी किसी बड़े से बात करते हो तो ‘आप-आप’ कहकर बात करनी चाहिए। तू-तू कहकर नहीं। यह भी मैनर्स है। तुम अपनी अथॉरिटी से बोलो लेकिन रिस्पेक्ट जरूर दो। स्कूल में यह भी मैनर्स सिखलाये जाते हैं। 2- कभी भी अहंकार से बात नहीं करनी चाहिए। ज्ञान के नशे में सदा हर्षितमुख रहो। हर्षित चेहरा भी बहुत सेवा करता है।
गीत:- आज के इस इंसान को…….. 

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे बच्चों को यह तो समझाया गया है कि बहुत पाप आत्मायें बन गई हैं। अच्छे बच्चे पुकारते हैं कि पाप बहुत हो गया है। पाप से ही मनुष्य पतित बनते हैं। याद भी करते हैं कि पाप आत्माओं को पुण्य आत्मा बनाने के लिए हे पतित-पावन आओ। यह पतित दुनिया है तो जरूर कोई पावन दुनिया भी है। निराकारी दुनिया को पावन दुनिया नहीं कहा जाता। वह शान्तिधाम है। पतित और पावन दुनिया मनुष्यों के लिए है। कलियुगी दुनिया में पतित हैं। सतयुगी दुनिया में पावन हैं। पतित-पावन बाप ही पावन दुनिया स्थापन करते हैं। विद्धान-पण्डितों ने शास्त्र बनाये हैं, नाम रख दिया है व्यास का। व्याख्यान करने वाले का नाम तो चाहिए ना। मनुष्य तो जानते ही नहीं कि शास्त्र बनाये कब हैं? यह तुम बच्चे जानते हो सतयुग-त्रेता में शास्त्र आदि होते नहीं। भक्ति मार्ग का वहाँ कोई निशान नहीं। बाप ज्ञान से जिंदाबाद करते हैं। ज्ञान से 21 जन्म जिंदाबाद होते हो फिर माया आकर मुर्दा बनाती है। यह है मुर्दों की दुनिया, जिसको कब्रिस्तान कहा जाता है। इस समय घोर कब्रिस्तान कहेंगे। बुद्धि तो सबकी चलती होगी। महाभारी लड़ाई में पूरा कब्रिस्तान बनता है। और लड़ाइयों में ऐसा नहीं होता। भागवत में लिखा हुआ है – ज्ञान सागर के सभी बच्चे कब्रदाखिल हो जाते हैं। माया ने काम चिता पर बिठाए सबको भस्मीभूत कर दिया है। सब कब्रदाखिल हैं। मुसलमानों की कुरान आदि में भी है – कब्रदाखिल हो जाते हैं। जब कयामत का समय होता है तो उन्हों को जगाने अल्लाह आता है। कब्रिस्तान को फिर परिस्तान बनाते हैं। बाबा ने बताया था कि बिरला मन्दिर में भी लिखा हुआ है कि देहली को परिस्तान बनाया था। तो जरूर कब्रिस्तान को परिस्तान बनाया होगा। प्रलय तो नहीं होगी, परन्तु मरते बहुत हैं। सतयुग में होते ही थोड़े मनुष्य हैं। एक ही आदि सनातन देवी-देवता धर्म रहता है। वहाँ ऐसी हालत नहीं होगी जिसका यह गीत सुना। स्वर्ग में कोई किसी को दु:ख नहीं देता। यहाँ तो कितना दु:ख देते हैं। एक-दो का खून कर देते हैं। बाबा के पास समाचार तो आते हैं ना। कोई दूसरे की स्त्री पर फिदा होते हैं तो अपनी स्त्री को खत्म कर देते हैं। जहर आदि दे देते हैं। यह है ही पतित दुनिया, तब तो गाते हैं – हे पतित-पावन आओ। परन्तु अपने को पतित समझते नहीं। कोई को कहो तुम पतित हो तो बिगड़ पड़े। अभी तुम जानते हो कि हम भी पतित थे। बाप पावन बना रहे हैं। अब यह फिर दुनिया को बताना है कि पतित दुनिया को पावन बनाने वाला शिवबाबा है। जिसकी जयन्ती भी तुम मनाते हो, वह आ गया है। असुल में कायदा था – कोई नई इन्वेन्शन निकलती थी तो राजा को बतलाते थे। वह हाथ में उठाते थे। अभी राजा तो है नहीं। यह इन्वेन्शन सबको बतलानी है। आपस में मिलकर रिज्युलेशन पास कर हजारों की सही लेकर गवर्मेन्ट को सूचना देनी चाहिए। इन्वेन्शन का फैलाव करने के लिए हाइएस्ट अथॉरिटी को बताया जाता है। फिर वह प्रबन्ध करती है। तो तुमको भी ऐसा करना चाहिए। जिसका जन्म दिन आये उनके लिए समझाओ। जिस दिन जिसका उत्सव हो उसी दिन उस पर समझायेंगे तो सब समझेंगे। बात तो बरोबर ठीक लगती है। आज से 5 हजार वर्ष पहले बाप आया था। भारत जो ऊंच ते ऊंच था, सोने की चिड़िया था वह बिल्कुल कौड़ी तुल्य बन गया है। उनको फिर परमपिता परमात्मा हीरे तुल्य बनाते हैं। ब्रह्मा द्वारा यह ज्ञान दे रहे हैं।

तुम समझा सकते हो – वास्तव में हर एक मनुष्य ब्रह्माकुमार-कुमारी है। सरनेम यह है। ब्रह्मा से ही रचना होती है ब्राह्मण धर्म की। फिर देवता, क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र – यह सारा सिजरा बन जाता है। तो तुम इन त्योहारों पर अच्छी रीति से समझा सकते हो। दीपमाला आती है। यह तो तुम जानते हो अब घर-घर में घोर अन्धियारा है। ज्ञान सूर्य प्रगटा, अज्ञान अंधेर विनाश। बरोबर घोर अन्धियारा है। कोई भी आत्मा अपने बाप को नहीं जानती। बाप को जानने से ही सबकी ज्योति जग जाती है। उनको शमा भी कहा जाता है। तो ऐसे मुख्य पर्व पर तुम बहुत अच्छी रीति समझा सकते हो। तुम गवर्मेन्ट को भी समझाओ। तुम्हें अभी ख़ास आगे बढ़ना है। माताओं को आगे करना है। इसमें पुरुषों को लज्जा नहीं आनी चाहिए। तो बाप समझाते हैं कि कैसे तुमको जगाना चाहिए। आपस में मिलकर के सही (हस्ताक्षर) लेकर के फिर समझाओ। तुम हर एक वास्तव में शिव के बच्चे हो। ऐसे नहीं कि सभी शिव हैं। बाप तो एक है। वह है रचयिता पतितों को पावन बनाने वाला। एक मेमोरण्डम बनाना चाहिए। मुख्य जो बड़े हैं उनको बताना चाहिए। तुम तो मनुष्यों को जगाते हो, मनुष्य समझते हैं गंगा में स्नान करने से पावन बनते हैं। परन्तु गंगा तो पतित-पावनी नहीं है। पतित-पावन एक ही निराकार है। ज्ञान की वर्षा करने वाला ज्ञान सागर वह है, बाकी यह सब है अन्धश्रधा। अभी तुम बच्चों को अथॉरिटी मिली है। शास्त्रों में लिखा है कुमारियों द्वारा ज्ञान बाण मरवाये हैं। अच्छे-अच्छे बच्चे काम कर सकते हैं। भाषण आदि कर सकते हैं। सेना में नम्बरवार तो होते हैं ना। बातचीत करने में भी मैनर्स चाहिए। अपने से बड़े को हमेशा ‘आप-आप’ कहा जाता है। परन्तु अनपढ़े बच्चे, ‘आप’ के बदले ‘तू-तू’ कर बात करते हैं। पढ़ाई से भी बुद्धि में मैनर्स आते हैं। टीचर्स फिर भी अच्छे होते हैं जो पढ़ाकर मर्तबा पाने लायक बनाते हैं। कैरेक्टर्स भी रजिस्टर में लिखते हैं। आजकल तो इतने कैरेक्टर वाले हैं नहीं। दुनिया में गंद ही गंद है। गीत में भी सुना ना कि क्या हाल है। तुम बच्चे जानते हो – अहो भारत हमारा कौन कहलाये। भारत स्वर्ग था। सन्यासी लोग तो कह देते हैं यह सब आपकी कल्पना है। उन्हों को क्या पता स्वर्ग क्या होता है? हाँ, कोई निकलेंगे जो देखकर बड़े खुश होंगे। यह चित्र बड़ी अच्छी चीज़ हैं। पाण्डवों के बड़े-बड़े बुत बनाते हैं। इतने बड़े कोई थे थोड़ेही। रावण को कितना बड़ा 100 फुट का लम्बा बनाते हैं। दिन-प्रतिदिन लम्बा बनाते जाते हैं। रावण की आयु बड़ी हो गई है। 2500 वर्ष आकर हुए हैं। तो तुम दशहरे के दिन पर भी अच्छी रीति समझा सकते हो। यह रावण की राजधानी है, इसको डेविल वर्ल्ड कहा जाता है। अखबार में भी कोई ने डाला था – यह राक्षसी दुनिया है। अगर कोई बोले तुम आसुरी राज्य क्यों कहते हो? बोलो – फलाने ने अखबार में भी रावण राज्य कहा है। बाप भी जब आये थे तो कहा था यह आसुरी दुनिया है। दैवी राज्य तो सतयुग में होता है। ऐसे-ऐसे मिलकर राय निकालनी चाहिए।

एम आब्जेक्ट क्लीयर है। बाहर बोर्ड पर भी एम-आब्जेक्ट लिखी है। कोई भी स्कूल में अंधश्रधा की बात नहीं होती। सतसंग जो भी हैं वहाँ वेद आदि सब अंधश्रधा से सुनते हैं। अर्थ कुछ भी नहीं निकलता। अब बाप कहते हैं – हे भारतवासियों, तुम बड़े-बड़े वेद-उपनिषद आदि कब से पढ़ते आये हो? सतयुग से तो नहीं कहेंगे। वहाँ यह भक्ति मार्ग का अंश नहीं। इनको भक्ति कल्ट कहा जाता है। आधाकल्प ब्रह्मा की रात भक्ति मार्ग शुरू होता है। भगवान् जरूर आता है तब तो शिव जयन्ती मनाई जाती है। नहीं तो वह निराकार कैसे आया? जरूर शरीर का आधार लिया होगा। तुम जानते हो बाप ब्रह्मा के तन का ही आधार लेते हैं। उनको आना ही भारत में है। बाप का जन्म भी भारत में ही है। ब्रह्मा का भी भारत में ही है। बाबा ने विराट रूप के लिए भी समझाया है। यह ब्राह्मण धर्म है चोटी। अब प्रैक्टिकल में तुम हो ना। हम ब्राह्मणों के ऊपर शिवबाबा निराकार है फिर ब्रह्मा का तन दिखाना पड़े। यह सरस्वती और यह ब्राह्मण कुल फिर देवता कुल, क्षत्रिय कुल – इतने-इतने जन्म लेते हैं। बिल्कुल क्लीयर एक्यूरेट बन सकता है। ब्रह्मा की रात, सरस्वती की रात, ब्रह्मावंशियों की भी रात। दिन में फिर सब ब्राह्मण सो देवता बनते हैं। प्वाइंट्स तो बच्चों को बहुत दी जाती हैं, धारण करनी हैं। ऐसा नहीं, एक कान से सुना और बाहर निकले, ख़लास। जैसे और सतसंगों में कथायें आदि सुनकर चले जाते हैं। यहाँ तो तुमको प्रत्यक्षफल मिलता है। जानते हो इस पढ़ाई से हमको मनुष्य से देवता बनना है। वहाँ कुछ एम आब्जेक्ट नहीं।

बाप समझाते तो बहुत हैं परन्तु कोई बिरले निकलते हैं। कोई-कोई तो ट्रेटर भी निकल पड़ते हैं। समझाना चाहिए – यह युद्ध का मैदान है। माया बड़ी प्रबल है। कोई फेल हो जाते हैं। यह भी ड्रामा का खेल है। सब थोड़ेही विन कर सकते हैं। बच्चे जानते हैं हम माया रावण से हारे हुए हैं। हार और जीत का यह खेल है। माया से हारे हार है। तुम जानते हो हम बाबा से विश्व का मालिक बनते हैं। यह नशा स्थाई रहना चाहिए। नशा टूटता क्यों है? विश्व के रचता बाप से पढ़ रहे हैं! नर से नारायण, नारी से लक्ष्मी बन रहे हैं! ऐसे थोड़ेही होता है कि स्टूडेन्ट पढ़ाई और पढ़ाने वाले को भूल जाते हैं। फिर यहाँ क्यों भूलते हो? घर में जाने से एकदम भूल जाते हैं। यहाँ बहुत निश्चयबुद्धि हो जाते हैं। कितने आंसू बहाते, यहाँ से घर गये फिर चिट्ठी भी नहीं लिखते। अनन्य बच्चे जो पण्डा बनकर आते वह भी भूल जाते हैं। कम से कम सर्विस समाचार तो लिखें – बाबा, हम आपकी सर्विस पर तत्पर हैं। नहीं तो बाबा समझ लेते हैं माया ने कब्रदाखिल कर दिया है। बुद्धि भी कहती है ऐसा बाबा जो विश्व का मालिक बनाने वाला है उनको तो निरन्तर याद करना चाहिए। परन्तु बच्चे मास-मास भी याद नहीं करते, पत्र नहीं लिखते। माया कोई-कोई को तो बिल्कुल ही मुर्दा बना देती है। जीते जी भी चिट्ठी नहीं लिखते, मरने के बाद तो बात ही नहीं। बाबा भी चिट्ठी तब लिखेंगे जब वह खुद लिखेंगे। जो बाबा को याद करेंगे वही कर्मातीत एवरहेल्दी बनेंगे। बाबा का वर्सा तो जरूर याद आना चाहिए। स्थाई नशा भी चढ़ना चाहिए। इस समय तुम बच्चों का याद से मुख मीठा होता है। जानते हो सृष्टि का राज्य रूपी मक्खन हमको मिलता है। कृष्ण को मुख में माखन दिखाते हैं अर्थात् विश्व का राज्य है। मालिकपने में भी स्टेटस हैं ना। जो जितना करेगा, वह पायेगा। तुम जानते हो बाबा हमको पढ़ाते हैं। परमपिता कहा जाता है ना। तो पिता से जरूर वर्सा मिलता है। मात-पिता चाहिए तब बच्चे पैदा हों, तब वर्सा मिले। कहते भी हैं तुम मात-पिता हम बालक तेरे। तुम्हारे सहज राजयोग सिखलाने से हम स्वर्ग के मालिक बनते हैं। समझाना चाहिए तीन सेनायें तो बरोबर खड़ी हैं। विनाश काले विपरीत बुद्धि – तो खलास हुए थे। बाकी जिनकी प्रीत थी भगवान् के साथ वह स्वर्ग के मालिक बन गये। हमारा फ़र्ज है गवर्मेन्ट को इतला करना। जो भी बड़े-बड़े आफीसर्स तुम्हारे साथ मिलते हैं उनसे भी सही ले सकते हो तो खुश हो जायेंगे। यह तो बहुत अच्छा कार्य करते हैं। मेहनत करो। इसमें फुर्सत भी चाहिए, जो फिर सम्भाल सको। सर्विस बढ़ाने के लिए तो बहुत युक्तियां हैं। परन्तु बच्चों में कहाँ-कहाँ अहंकार आ जाता है या फैमिलियरिटी में आने से बहुत नुकसान कर देते हैं। ज्ञान के नशे से चेहरा सदा हर्षित मुख रहना चाहिए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) एम ऑब्जेक्ट को सामने रख पुरुषार्थ करना है। दैवी मैनर्स धारण करने हैं। एक कान से सुन दूसरे से निकालना नहीं है।

2) विश्व रचयिता बाप हमें पढ़ा रहे हैं, उनके हम स्टूडेन्ट हैं – इस नशे में रहना है। सर्विस की भिन्न-भिन्न युक्तियां निकाल उसमें बिजी रहना है।

वरदान:- सुख के सागर बाप की स्मृति द्वारा दु:ख की दुनिया में रहते भी सुख स्वरूप भव
सदा सुख के सागर बाप की स्मृति में रहो तो सुख स्वरूप बन जायेंगे। चाहे दुनिया में कितना भी दु:ख अशान्ति का प्रभाव हो लेकिन आप न्यारे और प्यारे हो, सुख के सागर के साथ हो इसलिए सदा सुखी, सदा सुखों के झूले में झूलने वाले हो। मास्टर सुख के सागर बच्चों को दु:ख का संकल्प भी नहीं आ सकता क्योंकि दु:ख की दुनिया से किनारा कर संगम पर पहुंच गये। सब रस्सियां टूट गई तो सुख के सागर में लहराते रहो।
स्लोगन:- मन और बुद्धि को एक ही पावरफुल स्थिति में स्थित करना ही एकान्तवासी बनना है।
Font Resize