24 january ki murli

TODAY MURLI 24 JANUARY 2021 DAILY MURLI (English)

24/01/21
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
17/10/87

The decoration of Brahmin life ispurity

Today, BapDada is looking at His children from everywhere in the world who are particularly going to be worthy of worship. Out of the whole world, so few become invaluable, worthy-of-worship jewels. Only the worthy-of-worship souls become the special lights of the world. Just as when there is no light (life) in a body, there is no world, in the same way, if, in this world, there were not you elevated worthy-of-worship souls, you lights of the world, the world would have no importance. The golden age, the first age, and the satopradhan age, the new world, begins with you special souls. You worthy-of-worship souls are the images of support for the new world. So, you souls have so much importance. You worthy-of-worship souls are the new lights for the world. Your stage of ascending becomes instrumental in taking the world into its elevated stage. When you enter the stage of falling down, the world too enters into the stage of falling down. When you are transformed, the world is also transformed. You are such great souls with such importance.

Today, BapDada was looking at all the children. To become a Brahmin means to become worthy of worship, because Brahmins become deities and deities means worthy-of-worship. All deities are worthy of worship; nevertheless, they are definitely numberwise. Some deities are worshipped regularly, in the right way and some deities are not. Every action of some deities is worshipped, whereas for others, not all of their actions are worshipped. Some are decorated in the right way every day, whereas others are not decorated every day; they are superficially decorated, but not with the right method. In front of some deities, devotional songs are sung all the time, whereas those songs are only sung sometimes in front of others. What is the reason for all of this? All of you are called Brahmins, all of you study knowledge and yoga, and yet why is there this difference? There is a difference in dharna. However, do you know on the basis of which particular dharna it becomes numberwise?

The special basis of becoming worthy of worship is purity. The more you adopt all types of purity, the more you become worthy of worship in every way. Those who easily adopt purity constantly with the right method as their original and eternal virtue are those who become worthy of worship with the right method. What are all the types of purity? Those souls who easily and automatically fulfil their responsibilities in all their connections and relationships to all souls, whether in knowledge or without knowledge, through their every thought, word and deed with a constantly pure attitude, vision and vibrations, are said to have all types of purity. Even in your dreams, let nothing be lacking in adopting all types of purity for yourself and for others. For instance, if celibacy is broken even in your dreams, or if you perform actions or speak to another soul under the influence of jealousy or anger, if your interaction with that one is based on even a trace of anger, that would also be considered to be breaking the vow of purity. Just think about it: if even dreams have such an effect, then, how much effect would actions performed physically have? This is why an idol that is damaged is never worthy of worship. Damaged idols are not placed in the temples; they stay in the museums of today. Devotees do not go there. There is just their praise: “These are very old idols”. That is all! They call the damage of the physical limbs breakage but, in fact, if there is some breakage of observing purity in any way, then that soul becomes deprived of receiving a worthy-of-worship status. In the same way, if all four types of purity are observed in the right way, then the worship too is in the right way.

Purity in your mind, words, actions – relationships and connections are included in actions – and dreams is called complete purity. Because of carelessness, some children just try to make do and move along with the older ones or younger ones, saying, “My intention was very good, but the words just came out.” Or, “That wasn’t my aim, but it just happened.” Or, “I only said that or did that as a joke.” This is also “making do”, and that is why the worship of you is also just “making do”. This carelessness makes you numberwise in the stage of being fully worthy of worship. This too is accumulated in the account of impurity. You were told that the sign of worthy-of-worship pure souls is that all four types of their purity will be natural, easy and constant. They don’t have to think about it, but the dharna of purity automatically makes their thoughts, words, deeds and dreams accurate. Firstly, accurate means to be yogyukt and secondly, accurate means that every thought would have meaning; it would not be meaningless. You would not say, “I said it just like that, for the sake of it; it just came out; I just did it or it just happened. Such pure souls remain constantly accurate and yuktiyukt in every action, that is, through their whole day’s activity. This is why every action of such souls is worshipped, that is, their whole day’s activity is worshipped. A viewing is given of all their different activities from the time they wake up to the time they go to sleep.

If any action is not accurate or not constantly according to the timetable created for Brahmin life, then, because of that difference, there will be a difference in the way that you are worshipped. For instance, if someone is not disciplined when it comes to waking up at amrit vela, then, in their worship too, their worshippers will also fluctuate when it comes to worshipping them, that is, the worshippers will also not wake up at the right time and worship them; they will only worship them when it suits them. Or else, if at amrit vela they don’t experience an awakened stage, if sometimes they sit under compulsion, sometimes with laziness and sometimes with alertness, then their worshippers too will worship them under compulsion or laziness; they will not worship them in the right way. In this way, every action of the timetable affects their becoming worthy of worship. Not to move along in the right way, to fluctuate in any part of the timetable is also counted as a trace of impurity because laziness and carelessness are also vices. Any action that is not accurate is a vice. Therefore, that is a trace of impurity, is it not? Because of this you become numberwise in attaining a worthy-of-worship status. So, what is the foundation? Purity.

The dharna of purity is very deep. The ways and means of actions are based on purity. Purity is not just about gross things. Simply to be celibate or to remain free from attachment is not called purity. Purity is the decoration of Brahmin life. Let others experience the decoration of purity from your face and your activity at every moment. Let the decoration of purity always be revealed in a practical way in your eyes, your mouth, hands and feet. Let anyone who looks at your face experience purity in your features. Just as they speak of other types of features, similarly, let them say that purity is visible in your features, that there is the sparkle of purity in your eyes and the smile of purity on your lips. Let them not see anything else. This is called being an image that is decorated with the decoration of purity. Do you understand? There is a lot more depth to purity, which you will hear more about later. Just as the philosophy of actions is deep, so, too, the definition of purity is also very deep, and purity is the foundation. Achcha.

Today, those from Gujarat have come. Those from Gujarat are always dancing and singing with lightness. No matter how heavy they may be physically, they become light and dance. The speciality of Gujarat is that they always remain light, they always dance in happiness and continue to sing songs of the Father and their attainments. From childhood, they sing and dance very well. What do they do in Brahmin life? A Brahmin life means a life of pleasure. When you have garba-raas (dancing in unity in a circle), you enjoy yourselves, do you not? If you did not enjoy yourselves, you would not be able to do that for long. When you are enjoying yourselves and are intoxicated, you don’t feel tired; you become tireless. So, Brahmin life means a life of constantly remaining in pleasure. The other is physical pleasure, whereas Brahmin life is pleasure of the mind. Let the mind always continue to dance and sing in pleasure. Those people have the practice of being light and dancing and singing. So they don’t find it difficult to be doublelight in their Brahmin life. So, those from Gujarat means those who constantly have the practice of remaining light, those who are always blessed. So, the whole of Gujarat has received this blessing of being double light. You also receive blessings through the murli, do you not?

You were told that everything in your world happens according to capacity and the time. As is the capacity, so is the result. In the subtle region, there is no language for anything being ‘according to capacity’, etc. Here, both day and night have to be considered. There, there is neither day nor night; neither does the sun rise nor is there the moon; it is beyond both. You have to go there, do you not? In your heart-to-heart conversation, you children asked: Till when? BapDada replied: If you children say that you are ready, then BapDada can do it now. There would then be no question of when. The question “When?” will only arise for as long as the whole rosary is not yet ready. Now, when you sit to extract the names, then, even for the 108, you would have to think whether to include someone’s name or not. Now, in the rosary of 108, everyone should give the same 108 names. Nevertheless, there will be a difference. BapDada can clap now and everything can instantly begin to happen now, with the elements and also people. That wouldn’t take long. However, the Father loves all the children. He will hold your hand, for only then will you go with Him. To put your hand in His hand means to become equal. You would say: Not everyone will become equal. Or, not everyone will become number one. However, following number one is number two; that bead may not become equal to the Father, but it would at least be like the number one bead. The third bead would be like the second bead. The fourth bead would be like the third. At least, they should become equal in that way; and by each one coming close to the next, the rosary will be prepared. To reach such a stage means to become equal. The 108th bead would be similar to the 107th bead. If they have specialities like those (like each other), the rosary will be prepared. It has to be numberwise. Do you understand? The Father asks: Is there anyone now who can guarantee and say yes, everyone is ready? It would only take BapDada a second. You used to be shown those scenes when Baba would clap and angels would come. Achcha.

To all the supremely worthy-of-worship elevated souls, to all the intense effort-making souls who reach their aim of all types of complete purity, to the souls who become embodiments of success by performing every action in the right way, to the special souls who are decorated with the decoration of purity at every moment, BapDada’s love-filled remembrance.

BapDada meeting group:

Do you consider yourselves to be the most fortunate ones in the world? The whole world is calling out for that elevated fortune, that their fortune should open whereas your fortune has already opened. What could give greater happiness than this? You have the intoxication that the Bestower of Fortune is your Father, do you not? Just imagine what the fortune would be of someone whose Father is the Bestower of Fortune! Could there be greater fortune than this? Therefore, always have the happiness that fortune is your birthright. Children have a right to all the property that belongs to their father. So, what does the Bestower of Fortune have? The treasures of fortune. You now have a right to those treasures. So, always continue to sing the song, “Wah! my fortune and my Father, the Bestower of Fortune”, and fly in happiness. What else would one who has such elevated fortune need? Everything is included in your fortune. A fortunate person has everything: body, mind, wealth and people (relationships). An elevated fortune means that nothing is unattained. Do you lack anything? “I want a good house, I want a good car…” No. Someone who has found happiness of mind has attained everything, not just a car, but that one has found plentiful treasures. So, there is nothing unattained. You are such fortunate ones! What use is there in having a desire for perishable things? What exists today will not exist tomorrow, so why have any desire for it? Therefore, always stay in the happiness of the imperishable treasures that are with you now and will go with you. Those buildings, cars and money will not go with you, but these imperishable treasures will be with you for many births. No one can snatch them away from you; no one can loot them. You yourselves have become immortal and have found the imperishable treasures. This elevated reward will stay with you for birth after birth. It is such a huge fortune! Where there are no desires, where you are ignorant of the knowledge of desires, it is because you have attained such elevated fortune from the Father, the Bestower of Fortune.

2) Do you experience yourselves to be souls who stay close to the Father? Do you always have the happiness that you now belong to the Father? You have come away from the world of sorrow into the world of happiness. The world is crying out in sorrow, whereas you are in the world of happiness, swinging in the swing of happiness. There is so much difference! The world is searching, whereas you are celebrating a meeting. So, always remain cheerful seeing all your attainments. Make a list of what you have received and it will be a long list. What have you received? When you have happiness physically, the body is healthy. When your mind has received peace, peace is the speciality of the mind, and wealth has so much power that even daal and roti are experienced to be like 36 varieties of food. In your remembrance of God, even daal and roti seem so elevated. Even if the world has 36 varieties and you just have daal and roti, which would be more elevated? Daal and roti are good because that is prasad (holy food). When you prepare food, you prepare it in remembrance and you eat it in remembrance and so it becomes prasad. Prasad has great importance. All of you eat prasad every day. There is so much power in prasad. So, all three – body, mind and wealth – have so much power that there is nothing lacking in the treasure-store of Brahmins. So, constantly keep these attainments in front of you and remain happy and cheerful. Achcha.

Blessing: May you be a double-light angel who donates virtues through your deeds.
The faces and deeds of the children who donate virtues through their deeds are seen as those of angels. They experience themselves to be doublelight, that is, they are light (bright) and also light (weightless). They do not feel anything to be a burden. They experience help in every action they perform, as though some power is making them move. Because of being great donors in all their actions, they receive blessings and good wishes from everyone.
Slogan: Become a star of success in service; do not be weak.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 24 JANUARY 2021 : AAJ KI MURLI

24-01-21
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 17-10-87 मधुबन

ब्राह्मण जीवन का श्रृंगार – ‘पवित्रता’

आज बापदादा अपने विश्व के चारों ओर के विशेष होवनहार पूज्य बच्चों को देख रहे हैं। सारे विश्व में से कितने थोड़े अमूल्य रत्न पूजनीय बने हैं! पूजनीय आत्मायें ही विश्व के लिए विशेष जहान के नूर बन जाते हैं। जैसे इस शरीर में नूर नहीं तो जहान नहीं, ऐसे विश्व के अन्दर पूजनीय जहान के नूर आप श्रेष्ठ आत्मायें नहीं तो विश्व का भी महत्व नहीं। स्वर्ण-युग वा आदि-युग वा सतोप्रधान युग, नया संसार आप विशेष आत्माओं से आरम्भ होता है। नये विश्व के आधार-मूर्त, पूजनीय आत्मायें आप हो। तो आप आत्माओं का कितना महत्व है! आप पूज्य आत्मायें संसार के लिए नई रोशनी हो। आपकी चढ़ती कला विश्व को श्रेष्ठ कला में लाने के निमित्त बनती है। आप गिरती कला में आते हो तो संसार की भी गिरती कला होती है। आप परिवर्तन होते हो तो विश्व भी परिवर्तन होता है। इतने महान् और महत्व वाली आत्मायें हो!

आज बापदादा सर्व बच्चों को देख रहे थे। ब्राह्मण बनना अर्थात् पूज्य बनना क्योंकि ब्राह्मण सो देवता बनते हैं और देवतायें अर्थात् पूजनीय। सभी देवतायें पूजनीय तो हैं, फिर भी नम्बरवार जरूर हैं। किन देवताओं की पूजा विधिपूर्वक और नियमित रूप से होती है और किन्हों की पूजा विधिपूर्वक नियमित रूप से नहीं होती। किन्हों के हर कर्म की पूजा होती है और किन्हों के हर कर्म की पूजा नहीं होती है। कोई का विधिपूर्वक हर रोज श्रृंगार होता है और कोई का श्रृंगार रोज़ नहीं होता है, ऊपर-ऊपर से थोड़ा-बहुत सजा लेते हैं लेकिन विधिपूर्वक नहीं। कोई के आगे सारा समय कीर्तन होता और कोई के आगे कभी-कभी कीर्तन होता है। इन सभी का कारण क्या है? ब्राह्मण तो सभी कहलाते हैं, ज्ञान-योग की पढ़ाई भी सभी करते हैं, फिर भी इतना अन्तर क्यों? धारणा करने में अन्तर है। फिर भी विशेष कौनसी धारणाओं के आधार पर नम्बरवार होते हैं, जानते हो?

पूजनीय बनने का विशेष आधार पवित्रता के ऊपर है। जितना सर्व प्रकार की पवित्रता को अपनाते हैं, उतना ही सर्व प्रकार के पूजनीय बनते हैं और जो निरन्तर विधिपूर्वक आदि, अनादि विशेष गुण के रूप से पवित्रता को सहज अपनाते हैं, वही विधिपूर्वक पूज्य बनते हैं। सर्व प्रकार की पवित्रता क्या है? जो आत्मायें सहज, स्वत: हर संकल्प में, बोल में, कर्म में सर्व अर्थात् ज्ञानी और अज्ञानी आत्मायें, सर्व के सम्पर्क में सदा पवित्र वृत्ति, दृष्टि, वायब्रेशन से यथार्थ सम्पर्क-सम्बन्ध निभाते हैं – इसको ही सर्व प्रकार की पवित्रता कहते हैं। स्वप्न में भी स्वयं के प्रति या अन्य कोई आत्मा के प्रति सर्व प्रकार की पवित्रता में से कोई कमी न हो। मानो स्वप्न में भी ब्रह्मचर्य खण्डित होता है वा किसी आत्मा के प्रति किसी भी प्रकार की ईर्ष्या वा आवेश के वश कर्म होता या बोल निकलता है, क्रोध के अंश रूप में भी व्यवहार होता है तो इसको भी पवित्रता का खण्डन माना जायेगा। सोचो, जब स्वप्न का भी प्रभाव पड़ता है तो साकार में किये हुए कर्म का कितना प्रभाव पड़ता होगा! इसलिए खण्डित मूर्ति कभी पूजनीय नहीं होती। खण्डित मूर्तियाँ मन्दिरों में नहीं रहती, आजकल के म्यूज़ियम में रहती हैं। वहाँ भक्त नहीं आते। सिर्फ यही गायन होता है कि बहुत पुरानी मूर्तियाँ हैं, बस। उन्होंने स्थूल अंगों के खण्डित को खण्डित कह दिया है लेकिन वास्तव में किसी भी प्रकार की पवित्रता में खण्डन होता है तो वह पूज्य-पद से खण्डित हो जाते हैं। ऐसे, चारों प्रकार की पवित्रता विधिपूर्वक है तो पूजा भी विधिपूर्वक होती है।

मन, वाणी, कर्म (कर्म में सम्बन्ध सम्पर्क आ जाता है) और स्वप्न में भी पवित्रता – इसको कहते हैं सम्पूर्ण पवित्रता। कई बच्चे अलबेलेपन में आने के कारण, चाहे बड़ों को, चाहे छोटों को, इस बात में चलाने की कोशिश करते हैं कि मेरा भाव बहुत अच्छा है लेकिन बोल निकल गया, वा मेरी एम (लक्ष्य) ऐसे नहीं थी लेकिन हो गया, या कहते हैं कि हंसी-मजाक में कह दिया अथवा कर लिया। यह भी चलाना है इसलिए पूजा भी चलाने जैसी होती है। यह अलबेलापन सम्पूर्ण पूज्य स्थिति को नम्बरवार में ले आता है। यह भी अपवित्रता के खाते में जमा होता है। सुनाया ना – पूज्य, पवित्र आत्माओं की निशानी यही है – उन्हों की चारों प्रकार की पवित्रता स्वभाविक, सहज और सदा होगी। उनको सोचना नहीं पड़ेगा लेकिन पवित्रता की धारणा स्वत: ही यथार्थ संकल्प, बोल, कर्म और स्वप्न लाती है। यथार्थ अर्थात् एक तो युक्तियुक्त, दूसरा यथार्थ अर्थात् हर संकल्प में अर्थ होगा, बिना अर्थ नहीं होगा। ऐसे नहीं कि ऐसे ही बोल दिया, निकल गया, कर लिया, हो गया। ऐसी पवित्र आत्मा सदा हर कर्म में अर्थात् दिनचर्या में यथार्थ युक्तियुक्त रहती है। इसलिए पूजा भी उनके हर कर्म की होती है अर्थात् पूरे दिनचर्या की होती है। उठने से लेकर सोने तक भिन्न-भिन्न कर्म के दर्शन होते हैं।

अगर ब्राह्मण जीवन की बनी हुई दिनचर्या प्रमाण कोई भी कर्म यथार्थ वा निरन्तर नहीं करते तो उसके अन्तर के कारण पूजा में भी अन्तर पड़ेगा। मानो कोई अमृतवेले उठने की दिनचर्या में विधिपूर्वक नहीं चलते, तो पूजा में भी उनके पुजारी भी उस विधि में नीचे-ऊपर करते अर्थात् पुजारी भी समय पर उठकर पूजा नहीं करेगा, जब आया तब कर लेगा अथवा अमृतवेले जागृत स्थिति में अनुभव नहीं करते, मजबूरी से वा कभी सुस्ती, कभी चुस्ती के रूप में बैठते तो पुजारी भी मजबूरी से या सुस्ती से पूजा करेंगे, विधिपूर्वक पूजा नहीं करेंगे। ऐसे हर दिनचर्या के कर्म का प्रभाव पूजनीय बनने में पड़ता है। विधिपूर्वक न चलना, कोई भी दिनचर्या में ऊपर-नीचे होना – यह भी अपवित्रता के अंश में गिनती होता है क्योंकि आलस्य और अलबेलापन भी विकार है। जो यथार्थ कर्म नहीं है वह विकार है। तो अपवित्रता का अंश हो गया ना। इस कारण पूज्य पद में नम्बरवार हो जाते हैं। तो फाउन्डेशन क्या रहा? पवित्रता।

पवित्रता की धारणा बहुत महीन है। पवित्रता के आधार पर ही कर्म की विधि और गति का आधार है। पवित्रता सिर्फ मोटी बात नहीं है। ब्रह्मचारी रहे या निर्मोही हो गये – सिर्फ इसको ही पवित्रता नहीं कहेंगे। पवित्रता ब्राह्मण जीवन का श्रृंगार है। तो हर समय पवित्रता के श्रृंगार की अनुभूति चेहरे से, चलन से औरों को हो। दृष्टि में, मुख में, हाथों में, पांवों में सदा पवित्रता का श्रृंगार प्रत्यक्ष हो। कोई भी चेहरे तरफ देखे तो फीचर्स से उन्हें पवित्रता अनुभव हो। जैसे और प्रकार के फीचर्स वर्णन करते हैं, वैसे यह वर्णन करें कि इनके फीचर्स से पवित्रता दिखाई देती है, नयनों में पवित्रता की झलक है, मुख पर पवित्रता की मुस्कराहट है। और कोई बात उन्हें नज़र न आये। इसको कहते हैं पवित्रता के श्रृंगार से श्रृंगारी हुई मूर्त। समझा? पवित्रता की तो और भी बहुत गुह्यता है, वह फिर सुनाते रहेंगे। जैसे कर्मों की गति गहन है, पवित्रता की परिभाषा भी बड़ी गुह्य है और पवित्रता ही फाउन्डेशन है। अच्छा।

आज गुजरात आया है। गुजरात वाले सदा हल्के बन नाचते और गाते हैं। चाहे शरीर में कितने भी भारी हों लेकिन हल्के बन नाचते हैं। गुजरात की विशेषता है – सदा हल्का रहना, सदा खुशी में नाचते रहना और बाप के वा अपने प्राप्तियों के गीत गाते रहना। बचपन से ही नाचते-गाते अच्छा हैं। ब्राह्मण जीवन में क्या करते हो? ब्राह्मण जीवन अर्थात् मौजों की जीवन। गर्भा रास करते हो तो मौज में आ जाते हो ना। अगर मौज में न आये तो ज्यादा कर नहीं सकेंगे। मौज-मस्ती में थकावट नहीं होती है, अथक बन जाते हैं। तो ब्राह्मण जीवन अर्थात् सदा मौज में रहने की जीवन, वह है स्थूल मौज और ब्राह्मण जीवन की है मन की मौज। सदा मन मौज में नाचता और गाता रहे। वह लोग हल्के बन नाचने-गाने के अभ्यासी हैं। तो इन्हों को ब्राह्मण जीवन में भी डबल लाइट (हल्का) बनने में मुश्किल नहीं होती। तो गुजरात अर्थात् सदा हल्के रहने के अभ्यासी कहो, वरदानी कहो। तो सारे गुजरात को वरदान मिल गया – डबल लाइट। मुरली द्वारा भी वरदान मिलते हैं ना।

सुनाया ना – आपकी इस दुनिया में यथा शक्ति, यथा समय होता है। यथा और तथा। और वतन में तो यथा-तथा की भाषा ही नहीं है। यहाँ दिन भी तो रात भी देखना पड़ता। वहाँ न दिन, न है रात; न सूर्य उदय होता, न चन्द्रमा। दोनों से परे है। आना तो वहाँ है ना। बच्चों ने रूहरिहान में कहा ना कि कब तक? बापदादा कहते हैं कि आप सभी कहो कि हम तैयार हैं तो ‘अभी’ कर लेंगे। फिर ‘कब’ का तो सवाल ही नहीं है। ‘कब’ तब तक है जब तक सारी माला तैयार नहीं हुई है। अभी नाम निकालने बैठते हो तो 108 में भी सोचते हो कि यह नाम डालें वा नहीं? अभी 108 की माला में भी सभी वही 108 नाम बोलें। नहीं, फर्क हो जायेगा। बापदादा तो अभी घड़ी ताली बजावे और ठकाठक शुरू हो जायेगी – एक तरफ प्रकृति, एक तरफ व्यक्तियाँ। क्या देरी लगती। लेकिन बाप का सभी बच्चों में स्नेह है। हाथ पकड़ेंगे, तब तो साथ चलेंगे। हाथ में हाथ मिलाना अर्थात् समान बनना। आप कहेंगे – सभी समान अथवा सभी तो नम्बरवन बनेंगे नहीं। लेकिन नम्बरवन के पीछे नम्बर टू होगा। अच्छा, बाप समान नहीं बनें लेकिन नम्बरवन दाना जो होगा वह समान होगा। तीसरा दो के समान बने। चौथा तीन के समान बने। ऐसे तो समान बनें, तो एक दो के समीप होते-होते माला तैयार हो। ऐसी स्टेज तक पहुँचना अर्थात् समान बनना। 108 दाना 107 से तो मिलेगा ना। उन जैसी विशेषता भी आ जाए तो भी माला तैयार हो जायेगी। नम्बरवार तो होना ही है। समझा? बाप तो कहते – अभी कोई है गैरन्टी करने वाला कि हाँ, सब तैयार हैं? बापदादा को तो सेकेण्ड लगता। दृश्य दिखाते थे ना – ताली बजाई और परियाँ आ गई। अच्छा।

चारों ओर के परम पूज्य श्रेष्ठ आत्माओं को, सर्व सम्पूर्ण पवित्रता के लक्ष्य तक पहुँचने वाले तीव्र पुरूषार्थी आत्माओं को, सदा हर कर्म में विधिपूर्वक कर्म करने वाले सिद्धि-स्वरूप आत्माओं को, सदा हर समय पवित्रता के श्रृंगार में सजी हुई विशेष आत्माओं को बापदादा का स्नेह सम्पन्न यादप्यार स्वीकार हो।

पार्टियों से मुलाकात

1. विश्व में सबसे ज्यादा श्रेष्ठ भाग्यवान अपने को समझते हो? सारा विश्व जिस श्रेष्ठ भाग्य के लिए पुकार रहा है कि हमारा भाग्य खुल जाए… आपका भाग्य तो खुल गया। इससे बड़ी खुशी की बात और क्या होगी! भाग्यविधाता ही हमारा बाप है – ऐसा नशा है ना! जिसका नाम ही भाग्यविधाता है उसका भाग्य क्या होगा! इससे बड़ा भाग्य कोई हो सकता है? तो सदा यह खुशी रहे कि भाग्य तो हमारा जन्म-सिद्ध अधिकार हो गया। बाप के पास जो भी प्रापर्टी होती है, बच्चे उसके अधिकारी होते हैं। तो भाग्यविधाता के पास क्या है? भाग्य का खज़ाना। उस खज़ाने पर आपका अधिकार हो गया। तो सदैव ‘वाह मेरा भाग्य और भाग्य-विधाता बाप’! – यही गीत गाते खुशी में उड़ते रहो। जिसका इतना श्रेष्ठ भाग्य हो गया उसको और क्या चाहिए? भाग्य में सब कुछ आ गया। भाग्यवान के पास तन-मन-धन-जन सब कुछ होता है। श्रेष्ठ भाग्य अर्थात् अप्राप्त कोई वस्तु नहीं। कोई अप्राप्ति है? मकान अच्छा चाहिए, कार अच्छी चाहिए… नहीं। जिसको मन की खुशी मिल गई, उसे सर्व प्राप्तियाँ हो गई! कार तो क्या लेकिन कारून का खजाना मिल गया! कोई अप्राप्त वस्तु है ही नहीं। ऐसे भाग्यवान हो! विनाशी इच्छा क्या करेंगे। जो आज है, कल है ही नहीं – उसकी इच्छा क्या रखेंगे इसलिए, सदा अविनाशी खज़ाने की खुशियों में रहो जो अब भी है और साथ में भी चलेगा। यह मकान, कार वा पैसे साथ नहीं चलेंगे लेकिन यह अविनाशी खज़ाना अनेक जन्म साथ रहेगा। कोई छीन नहीं सकता, कोई लूट नहीं सकता। स्वयं भी अमर बन गये और खज़ाने भी अविनाशी मिल गये! जन्म-जन्म यह श्रेष्ठ प्रालब्ध साथ रहेगी। कितना बड़ा भाग्य है! जहाँ कोई इच्छा नहीं, इच्छा मात्रम् अविद्या है – ऐसा श्रेष्ठ भाग्य भाग्यविधाता बाप द्वारा प्राप्त हो गया।

2. अपने को बाप के समीप रहने वाली श्रेष्ठ आत्मायें अनुभव करते हो? बाप के बन गये – यह खुशी सदा रहती है? दु:ख की दुनिया से निकल सुख के संसार में आ गये। दुनिया दु:ख में चिल्ला रही है और आप सुख के संसार में, सुख के झूले में झूल रहे हो। कितना अन्तर है! दुनिया ढूंढ रही है और आप मिलन मना रहे हो। तो सदा अपनी सर्व प्राप्तियों को देख हर्षित रहो। क्या-क्या मिला है, उसकी लिस्ट निकालो तो बहुत लम्बी लिस्ट हो जायेगी। क्या-क्या मिला? तन में खुशी मिली, तो तन की तन्दरुस्ती है; मन में शान्ति मिली, तो शान्ति मन की विशेषता है और धन में इतनी शक्ति आई जो दाल-रोटी 36 प्रकार के समान अनुभव हो। ईश्वरीय याद में दाल-रोटी भी कितनी श्रेष्ठ लगती है! दुनिया के 36 प्रकार हों और आप की दाल-रोटी हो तो श्रेष्ठ क्या लगेगा? दाल-रोटी अच्छी है ना क्योंकि प्रसाद है ना। जब भोजन बनाते हो तो याद में बनाते हो, याद में खाते हो तो प्रसाद हो गया। प्रसाद का महत्व होता है। आप सभी रोज़ प्रसाद खाते हो। प्रसाद में कितनी शक्ति होती है! तो तन-मन-धन सभी में शक्ति आ गई इसलिए कहते हैं – अप्राप्त नहीं कोई वस्तु ब्राह्मणों के खजाने में। तो सदा इन प्राप्तियों को सामने रख खुश रहो, हर्षित रहो, अच्छा।

वरदान:- कर्म द्वारा गुणों का दान करने वाले डबल लाइट फरिश्ता भव
जो बच्चे कर्मणा द्वारा गुणों का दान करते हैं उनकी चलन और चेहरा दोनों ही फरिश्ते की तरह दिखाई देते हैं। वे डबल लाइट अर्थात् प्रकाशमय और हल्केपन की अनुभूति करते हैं। उन्हें कोई भी बोझ महसूस नहीं होता है। हर कर्म में मदद की महसूसता होती है। जैसे कोई शक्ति चला रही है। हर कर्म द्वारा महादानी बनने के कारण उन्हें सर्व की आशीर्वाद वा सर्व के वरदानों की प्राप्ति का अनुभव होता है।
स्लोगन:- सेवा में सफलता का सितारा बनो, कमजोर नहीं।

TODAY MURLI 24 JANUARY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 24 January 2020

24/01/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, when you become bodiless and remember the Father, this world is dead for you. You forget your bodies and the world for that time.
Question: Why has each of you children been given a third eye of knowledge by the Father?
Answer: You have been given the third eye of knowledge so that you can consider yourselves to be souls and remember the Father as He is and in the form that He is. However, your third eyes will only work when you keep your intellects accurately absorbed in yoga. This means that when you have true love for the one Father, you are not trapped in anyone’s name or form. Maya obstructs the love of you children for Baba and you children then deceive yourselves.
Song: To live in Your lane and to die in Your lane.

Om shanti. No one, but you Brahmin children, understands the meaning of this song. Those who create the Vedas and scriptures etc. are unable to understand the meaning of anything they study. This is why the Father says: I explain the essence of all the Vedas and scriptures through the mouth of Brahma. People are unable to understand the meaning behind these songs too. Only the Father explains the true meaning to you. When a soul leaves his body, all his present relationships with the world are totally broken. The song says: Consider yourself to be a soul, become bodiless and remember the Father. Therefore, this world is dead to you. This body is standing on this earth. When a soul leaves his body, the human world doesn’t exist for that soul at that time; the soul becomes naked. Then, when he enters another body, he begins to play that part, after which, he leaves that body and enters another. He doesn’t return to the great element of light; he flies into another body. He has to play his part under the element of this sky. He is not able to return to the supreme region. When a soul leaves his body, there is no more bondage of karma with the body he has left, nor is there bondage of karma with the body he has to enter, because the soul is separate from the body. When he takes his next body, his bondages of karma begin again. No other human beings except you know these things. The Father has explained that they are all absolutely senseless. However, they don’t think that they are; they consider themselves to be very wise and keep giving one another peace prizes. You jewels of the Brahmin clan are able to explain this very clearly. They don’t know what peace means. Some go to those who are called great souls and ask how they can attain peace of mind. They ask them how there can be peace in the world. They don’t ask how there can be peace in the incorporeal world. That is the land of peace anyway. You souls reside in your land of peace. Those people ask for peace of mind but they don’t understand how peace can be attained. The land of peace is your home. How can there be peace here? Yes, there is peace, happiness and prosperity in the golden age; there is everything and it is established by the Father. Here, there is so much peacelessness! Only now do you children understand all of this. Peace, happiness and prosperity only existed in Bharat. That inheritance had been given by the Father, and Ravan then gave you this inheritance of unhappiness, peacelessness and poverty. The unlimited Father sits here and explains all of these things to you children. The Father is the One who resides in the supreme abode. He is knowledgefull. He gives us our inheritance of the land of happiness. He is explaining to souls. You understand that it is souls that have knowledge. He is called the Ocean of Knowledge. That Ocean of Knowledge is teaching you the history and geography of the world through this body. The world has to have a fixed duration of time. The world always exists anyway. It is said that it just changes from new to old. Human beings don’t even know how long it takes for the new world to change and become old. You children understand that the golden age definitely has to come after the iron age and that the Father therefore has to come at the confluence of the iron age and the golden age. You also understand that the Supreme Father, the Supreme Soul, establishes the new world through Brahma and that He will then inspire destruction through Shankar. The picture of the Trimurti explains that creation, destruction and sustenance take place through those three. This is a common matter and yet you children forget these things. Otherwise, you would experience a great deal of happiness. You should have constant remembrance. Baba is now making us worthy of going to the new world. Only the people of Bharat, no one else, become worthy of that. Yes, those who have been converted to other religions will also come. They will once again be converted back to this religion, just as you had been converted into other religions previously. You have all of this knowledge in your intellects. Therefore, you have to explain to human beings that this old world is now about to change. The Mahabharat War definitely has to take place. Baba comes at this time to teach you Raj Yoga. It is those who study Raj Yoga now that will go to the new world. You can explain to everyone that God is the Highest on High, and that there are then Brahma, Vishnu and Shankar. Then, down here on this human plane, Jagadamba and Jagadpita are the principal ones. The Father comes here and enters this Brahma’s body. Prajapita Brahma exists here. Establishment has to take place through Brahma here. It doesn’t take place in the subtle region; it takes place here. This one becomes subtle from gross (corporeal). They study Raj Yoga and thus become the dual form of Vishnu. You have to understand the history and geography of the world. Only you human beings can understand this. Only the Master of the world can explain the history and geography of the world. That One, who is knowledgefull, is beyond birth and rebirth. This knowledge is not in the intellect of anyone else. Your intellects must imbibe the power to discern. You have to feel their pulses as to whether anything remains in their intellects or not. There was a very famous herbalist called Ajmal Khan. It is said that he was able to diagnose the sickness of anyone by simply looking at the person. You children have to understand whether someone is worthy or not. The Father has given each of you children a third eye of knowledge through which you consider yourselves to be souls and remember the Father as He is and in the form He is. However, only those who keep their intellects accurately absorbed in yoga are able to do this. The more love your intellects have for the Father, the more you are able to understand this. Not all of you are like this. Some of you become trapped in the names and forms of one another. The Father says: Your love must be for Me alone. Maya is such that she stops you from having that love. When Maya sees that her customers are leaving her, she totally grabs hold of them by their nose or ears. Then, when that soul has been deceived, he realises how he was deceived by Maya. He would be unable to conquer Maya or the world. He would be unable to claim a high status. It is this that takes effort. Shrimat says: Remember Me alone so that your impure intellect becomes pure. However, this is what some of you find very difficult to do. Here, there is only one subject: Alpha and beta. That’s all! Aren’t you even able to remember just two words? Baba says “Remember Alpha” but you children still remember your own bodies and the bodies of others. Baba says: Whilst seeing a body you must remember Me. You souls have now received a third eye in order to be able to see Me and understand Me. Make use of this. Use your third eye! You are also those who become able to see the three aspects of time, but all of you are numberwise in being able to see the three aspects of time. It is not difficult to imbibe knowledge. Some understand knowledge very clearly but they lack the power of yoga; they lack soul consciousness. They become angry and keep falling down even over trivial matters. They get up and then fall down again. Today, they stand up; tomorrow, they fall down again. Body consciousness is the main thing, but they also then become trapped in the other vices: greed, attachment etc. They also have attachment to their own bodies. You mothers have a great deal of attachment. The Father is now liberating you from that. You have now found the unlimited Father, and so why do you still have attachment? At that time, your face, your manner of speaking and everything else about you become like those of a monkey. The Father says: Conquer attachment! Constantly remember Me! There is a huge burden of sin on your heads. How are you going to remove that? However, Maya is such that she even stops you from having remembrance. No matter how much you beat your heads, she repeatedly makes your intellects slip away. You try so hard and you continue to sing praise of the most beloved Baba: “Baba, we are about to come to You.” However, as you move along, you forget and your intellects go in other directions. This one, who claims the first number, is an effort-maker too. You children should keep it in your intellects that you are students of God, the Father. It is written in the Gita: God speaks: I make you the king of kings. It is just that Shiva’s name was replaced by Krishna’s name. In fact, Shiv Baba’s birthday should be celebrated throughout the whole world. Shiv Baba becomes everyone’s Guide and liberates them from sorrow. Everyone accepts that God is the Liberator and the Guide, that He is the Father, the Purifier of all. He is the One who takes everyone to the land of peace and the land of happiness. Therefore, why would His birthday not be celebrated? The people of Bharat do not celebrate it. Therefore, Bharat has reached such a bad state. Everyone is going to die in very unpleasant circumstances. Such bombs are being manufactured with a type of gas that will kill everyone the instant they strike. It will be as though they are given chloroform. Such things have to be created. They have to make those things; it’s impossible for them to stop. That which happened in the previous cycle is now about to repeat. The old world was destroyed by those missiles and also by natural calamities and the same will happen now too. According to the dramaplan, when it’s time for destruction, it will definitely happen. According to the drama, destruction will definitely take place. Rivers of blood will flow here. At the time of a civil war, people kill each other. Only a few of you understand that this world has to change; you are going to the land of happiness and so you should constantly have the supersensuous joy of this knowledge. The more you stay in remembrance, the more your happiness will increase and you will conquer your attachment to those dirty bodies. The Father simply says: Remember Alpha and the kingdom is yours. You claim your kingdom in a second. When an emperor has a son, his son then becomes the emperor. Therefore, the Father says: Continue to remember Me and the cycle and you will become the rulers of the globe. It has been remembered that liberation-in-life can be claimed in a second. You can change from a beggar to a prince in a second. This is a very good thing. Therefore, you should follow shrimat accurately. Take advice at every step. The Father explains: My sweet children, become trustees so that your attachment can be removed. However, to become a trustee is not like going to your aunty’s home! This one himself became a trustee and he makes you children into trustees too. Does this one take anything for himself? He says: Become trustees and look after everything. By your becoming a trustee, all attachment to everything is removed. Since you say that everything has been given to you by God, why do you become ill when there is some loss or when someone dies? When you receive something, you become happy. Since you say that everything has been given to you by God, why do you cry when someone dies? However, Maya is no less. This is not like going to your aunty’s home! The Father says: You called out to Me: I no longer want to live in this impure world. Take me to the pure world! Take me back with You! However, none of you understood the meaning of this. When the Purifier comes, your bodies, of course, definitely have to die. Only then can He take you souls back with Him. Therefore, your intellects should have so much love for such a Father! There should be love for just the One. He is the only One you should remember. Storms of Maya will come to you but you mustn’t perform any sinful deed through your physical organs; that is against the law. The Father says: When I come,I take the support of this one’s body, but it is the Father you have to remember. You know that Brahma is Baba and that Shiva is also Baba. Vishnu and Shankar are not called Baba. Shiva is the incorporeal Father and Prajapita Brahma is the corporeal father. You are now claiming your inheritance from the incorporeal Father through this corporeal one. Dada (Grandfather) enters this one. This is how you claim your inheritance from the Grandfather, through the father. Dada, the Grandfather, is incorporeal and this father is corporeal. This is a wonderful new aspect! They show the Trimurti but they don’t understand anything. They have removed Shiva and made Him disappear. The Father explains such beautiful aspects, and so you should have such happiness that you are His students! Baba is your Father, Teacher and Satguru. You are now listening to the unlimited Father telling you the history and geography of the world. You then have to tell others about this cycle of 5000 years. The history and geography of the world must also be explained to college students. What is the ladder of 84 births? You have to explain the ladder of 84 births to people and how Bharat ascends and how Bharat descends. Bharat becomes heaven in a second and then, during your 84 births, Bharat becomes hell. These are very easy matters to understand. How did Bharat become the iron age from the golden age? This is what you have to explain to the people of Bharat. You must also explain to teachers. They have worldly knowledge whereas this is spiritual knowledge. Human beings give that knowledge; God, the Father, gives this knowledge. He is the Seed of the human world tree and so the knowledge He has would be that of the human world. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Completely conquer your attachment to dirty bodies and remain in the supersensuous joy of this knowledge. Your intellect must remember that this world is being transformed and that you are about to go to your land of happiness.
  2. Become a trustee and look after everything. Put an end to all attachment and have true love for the one Father. Do not perform any sinful acts with your physical organs.
Blessing: May you be blessed with a divine intellect and a divine eye and stay like a lotus by staying beyond any attraction of all the physical organs.
As soon as every Brahmin child takes birth, he receives from BapDada, the blessing of a divine and powerful intellect and a divine eye. The children who use their birthday giftsaccurately remain stable on the seat of an elevated stage like a lotus. Any type of attraction, such as relations of the body, possessions of the body or any physical organs cannot attract them. They remain beyond all attractions and are constantly cheerful. They experience themselves to have stepped away from all iron-aged, impure and vicious attraction.
Slogan: When you are no longer tempted, you being an embodiment of power will be revealed.

*** Om Shanti ***

Special homework to experience the avyakt stage in this avyakt month.

Check your ropes of attachment and see whether your intellect is trapped somewhere in the weak threads. Let there be no subtle bondages or any attachment to your own body. To have such freedom, that is, in order to become so clear, be one who has unlimited renunciation for only then will you be able to stay in the avyakt stage.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 24 JANUARY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 24 January 2020

24-01-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम अशरीरी बन जब बाप को याद करते हो तो तुम्हारे लिए यह दुनिया ही खत्म हो जाती है, देह और दुनिया भूली हुई है”
प्रश्नः- बाप द्वारा सभी बच्चों को ज्ञान का तीसरा नेत्र क्यों मिला है?
उत्तर:- अपने को आत्मा समझ, बाप जो है जैसा है, उसी रूप में याद करने के लिए तीसरा नेत्र मिला है। परन्तु यह तीसरा नेत्र काम तब करता है जब पूरा योगयुक्त रहें अर्थात् एक बाप से सच्ची प्रीत हो। किसी के नाम-रूप में लटके हुए न हों। माया प्रीत रखने में ही विघ्न डालती है। इसी में बच्चे धोखा खाते हैं।
गीत:- मरना तेरी गली में ………….

ओम् शान्ति। सिवाए तुम ब्राह्मण बच्चों के इस गीत का अर्थ कोई समझ न सके। जैसे वेद-शास्त्र आदि बनाये हैं परन्तु जो कुछ पढ़ते हैं उसका अर्थ नहीं समझ सकते इसलिए बाप कहते हैं मैं ब्रह्मा मुख द्वारा सब वेदों-शास्त्रों का सार समझाता हूँ, वैसे ही इन गीतों का अर्थ भी कोई समझ नहीं सकते, बाप ही इनका अर्थ बताते हैं। आत्मा जब शरीर से न्यारी हो जाती है तो दुनिया से सारा संबंध टूट जाता है। गीत भी कहता है अपने को आत्मा समझ अशरीरी बन बाप को याद करो तो यह दुनिया खत्म हो जाती है। यह शरीर इस पृथ्वी पर है, आत्मा इनसे निकल जाती है तो फिर उस समय उनके लिए मनुष्य सृष्टि है नहीं। आत्मा नंगी बन जाती है। फिर जब शरीर में आती है तो पार्ट शुरू होता है। फिर एक शरीर छोड़ दूसरे में जाकर प्रवेश करती है। वापिस महतत्व में नहीं जाना है। उड़कर दूसरे शरीर में जाती है। यहाँ इस आकाश तत्व में ही उनको पार्ट बजाना है। मूलवतन में नहीं जाना है। जब शरीर छोड़ते हैं तो न यह कर्मबन्धन, न वह कर्मबन्धन रहता है। शरीर से ही अलग हो जाते हैं ना। फिर दूसरा शरीर लेते तो वह कर्मबन्धन शुरू होता है। यह बातें सिवाए तुम्हारे और कोई मनुष्य नहीं जानते। बाप ने समझाया है सब बिल्कुल ही बेसमझ हैं। परन्तु ऐसे कोई समझते थोड़ेही हैं। अपने को कितना अक्लमंद समझते हैं, पीस प्राइज़ देते रहते हैं। यह भी तुम ब्राह्मण कुल भूषण अच्छी रीति समझा सकते हो। वह तो जानते ही नहीं कि पीस किसको कहा जाता है? कोई तो महात्माओं के पास जाते हैं कि मन की शान्ति कैसे हो? यह तो कहते हैं वर्ल्ड में शान्ति कैसे हो! ऐसे नहीं कहेंगे कि निराकारी दुनिया में शान्ति कैसे हो? वह तो है ही शान्तिधाम। हम आत्मायें शान्तिधाम में रहती हैं परन्तु यह तो मन की शान्ति कहते हैं। वह जानते नहीं कि शान्ति कैसे मिलेगी? शान्तिधाम तो अपना घर है। यहाँ शान्ति कैसे मिल सकती? हाँ, सतयुग में सुख, शान्ति, सम्पत्ति सब है, जिसकी स्थापना बाप करते हैं। यहाँ तो कितनी अशान्ति है। यह सब अब तुम बच्चे ही समझते हो। सुख, शान्ति, सम्पत्ति भारत में ही थी। वह वर्सा था बाप का और दु:ख, अशान्ति, कंगालपना, यह वर्सा है रावण का। यह सब बातें बेहद का बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं। बाप परमधाम में रहने वाला नॉलेजफुल है, जो सुखधाम का हमको वर्सा देते हैं। वह हम आत्माओं को समझा रहे हैं। यह तो जानते हो नॉलेज होती है आत्मा में। उनको ही ज्ञान का सागर कहा जाता है। वह ज्ञान का सागर इस शरीर द्वारा वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी समझाते हैं। वर्ल्ड की आयु तो होनी चाहिए ना। वर्ल्ड तो है ही। सिर्फ नई दुनिया और पुरानी दुनिया कहा जाता है। यह भी मनुष्यों को पता नहीं। न्यु वर्ल्ड से ओल्ड वर्ल्ड होने में कितना समय लगता है?

तुम बच्चे जानते हो कलियुग के बाद सतयुग जरूर आना है इसलिए कलियुग और सतयुग के संगम पर बाप को आना पड़ता है। यह भी तुम जानते हो परमपिता परमात्मा ब्रह्मा द्वारा नई दुनिया की स्थापना, शंकर द्वारा विनाश कराते हैं। त्रिमूर्ति का अर्थ ही यह है-स्थापना, विनाश, पालना। यह तो कॉमन बात है। परन्तु यह बातें तुम बच्चे भूल जाते हो। नहीं तो तुमको खुशी बहुत रहे। निरन्तर याद रहनी चाहिए। बाबा हमको अब नई दुनिया के लिए लायक बना रहे हैं। तुम भारतवासी ही लायक बनते हो, और कोई नहीं। हाँ, जो और-और धर्मों में कनवर्ट हो गये हैं, वह आ सकते हैं। फिर इसमें कनवर्ट हो जायेंगे, जैसे उसमें हुए थे। यह सारी नॉलेज तुम्हारी बुद्धि में है। मनुष्यों को समझाना है यह पुरानी दुनिया अब बदलती है। महाभारत लड़ाई भी जरूर लगनी है। इस समय ही बाबा आकर राजयोग सिखलाते हैं। जो राजयोग सीखते हैं, वह नई दुनिया में चले जायेंगे। तुम सबको समझा सकते हो कि ऊंच ते ऊंच है भगवान, फिर ब्रह्मा-विष्णु-शंकर, फिर आओ यहाँ, मुख्य है जगत अम्बा, जगत पिता। बाप आते भी यहाँ हैं ब्रह्मा के तन में, प्रजापिता ब्रह्मा तो यहाँ है ना। ब्रह्मा द्वारा स्थापना सूक्ष्मवतन में तो नहीं होगी ना। यहाँ ही होती है। यह व्यक्त से अव्यक्त बन जाते हैं। यह राजयोग सीख फिर विष्णु के दो रूप बनते हैं। वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी समझनी चाहिए ना। मनुष्य ही समझेंगे। वर्ल्ड का मालिक ही वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी समझा सकते हैं। वह नॉलेजफुल, पुनर्जन्म रहित है। यह नॉलेज किसकी बुद्धि में नहीं है। परखने की भी बुद्धि चाहिए ना। कुछ बुद्धि में बैठता है या ऐसे ही है, नब्ज देखनी चाहिए। एक अजमल खाँ नामीग्रामी वैद्य होकर गया है। कहते हैं देखने से ही उनको बीमारी का पता पड़ जाता था। अब तुम बच्चों को भी समझना चाहिए कि यह लायक है या नहीं?

बाप ने बच्चों को ज्ञान का तीसरा नेत्र दिया है, जिससे तुम अपने को आत्मा समझ, बाप जो है, जैसा है, उसको उसी रूप में याद करते हो। परन्तु ऐसी बुद्धि उनकी होगी जो पूरा योगयुक्त होंगे, जिनकी बाप से प्रीत बुद्धि होगी। सब तो नहीं हैं ना। एक दो के नाम-रूप में लटक पड़ते हैं। बाप कहते हैं प्रीत तो मेरे साथ लगाओ ना। माया ऐसी है जो प्रीत रखने नहीं देती है। माया भी देखती है हमारा ग्राहक जाता है तो एकदम नाक-कान से पकड़ लेती है। फिर जब धोखा खाते हैं तब समझते हैं माया से धोखा खाया। मायाजीत, जगतजीत बन नहीं सकेंगे, ऊंच पद पा नहीं सकेंगे। इसमें ही मेहनत है। श्रीमत कहती है मामेकम् याद करो तो तुम्हारी जो पतित बुद्धि है वह पावन बन जायेगी। परन्तु कइयों को बड़ा मुश्किल लगता है। इसमें सब्जेक्ट एक ही है अलफ और बे। बस, दो अक्षर भी याद नहीं कर सकते हैं! बाबा कहे अलफ को याद करो फिर अपनी देह को, दूसरे की देह को याद करते रहते हैं। बाबा कहते हैं देह को देखते हुए तुम मुझे याद करो। आत्मा को अब तीसरा नेत्र मिला है मुझे देखने-समझने का, उससे काम लो। तुम बच्चे अभी त्रिनेत्री, त्रिकालदर्शी बनते हो। परन्तु त्रिकालदर्शी भी नम्बरवार हैं। नॉलेज धारण करना कोई मुश्किल नहीं है। बहुत ही अच्छा समझते हैं परन्तु योगबल कम है, देही-अभिमानी-पना बहुत कम है। थोड़ी बात में क्रोध, गुस्सा आ जाता है, गिरते रहते हैं। उठते हैं, गिरते हैं। आज उठे कल फिर गिर पड़ते हैं। देह-अभिमान मुख्य है फिर और विकार लोभ, मोह आदि में फंस पड़ते हैं। देह में भी मोह रहता है ना। माताओं में मोह जास्ती होता है। अब बाप उससे छुड़ाते हैं। तुमको बेहद का बाप मिला है फिर मोह क्यों रखते हो? उस समय शक्ल बातचीत ही बन्दर मिसल हो जाती है। बाप कहते हैं-नष्टोमोहा बन जाओ, निरन्तर मुझे याद करो। पापों का बोझा सिर पर बहुत है, वह कैसे उतरे? परन्तु माया ऐसी है, याद करने नहीं देगी। भल कितना भी माथा मारो घड़ी-घड़ी बुद्धि को उड़ा देती है। कितनी कोशिश करते हैं हम मोस्ट बिलवेड बाबा की ही महिमा करते रहें। बाबा, बस आपके पास आये कि आये, परन्तु फिर भूल जाते हैं। बुद्धि और तरफ चली जाती है। यह नम्बरवन में जाने वाला भी पुरुषार्थी है ना।

बच्चों की बुद्धि में यह याद रहना चाहिए कि हम गॉड फादरली स्टूडेन्ट हैं। गीता में भी है-भगवानुवाच, मैं तुमको राजाओं का राजा बनाता हूँ। सिर्फ शिव के बदले कृष्ण का नाम डाल दिया है। वास्तव में शिवबाबा की जयन्ती सारी दुनिया में मनानी चाहिए। शिवबाबा सबको दु:ख से लिबरेट कर गाइड बन ले जाते हैं। यह तो सब मानते हैं कि वह लिबरेटर, गाइड है। सबका पतित-पावन बाप है, सबको शान्तिधाम-सुखधाम में ले जाने वाला है तो उनकी जयन्ती क्यों नहीं मनाते हैं? भारतवासी ही नहीं मनाते हैं इसलिए ही भारत की यह बुरी गति हुई है। मौत भी बुरी गति से होता है। वह तो बॉम्बस ऐसे बनाते हैं, गैस निकला और खलास, जैसे क्लोरोफॉर्म लग जाता है। यह भी उन्हों को बनाने ही हैं। बन्द होना इम्पॉसिबुल है। जो कल्प पहले हुआ था सो अब रिपीट होगा। इन मूसलों और नैचुरल कैलेमिटीज़ से पुरानी दुनिया का विनाश हुआ था, सो अभी भी होगा। विनाश का समय जब होगा तो ड्रामा प्लैन अनुसार एक्ट में आ ही जायेंगे। ड्रामा विनाश जरूर करायेगा। रक्त की नदियाँ यहाँ बहेंगी। सिविलवार में एक-दो को मार डालते हैं ना। तुम्हारे में भी थोड़े जानते हैं कि यह दुनिया बदल रही है। अब हम जाते हैं सुखधाम। तो सदैव ज्ञान के अतीन्द्रिय सुख में रहना चाहिए। जितना याद में रहेंगे उतना सुख बढ़ता जायेगा। छी-छी देह से नष्टोमोहा होते जायेंगे। बाप सिर्फ कहते हैं अलफ को याद करो तो बे बादशाही तुम्हारी है। सेकण्ड में बादशाही, बादशाह को बच्चा हुआ तो गोया बच्चा बादशाह बना ना। तो बाप कहते हैं मुझे याद करते रहो और चक्र को याद करो तो चक्रवर्ती महाराजा बनेंगे इसलिए गाया जाता है सेकण्ड में जीवनमुक्ति, सेकण्ड में बेगर टू प्रिन्स। कितना अच्छा है। तो श्रीमत पर अच्छी रीति चलना चाहिए। कदम-कदम पर राय लेनी होती है।

बाप समझाते हैं मीठे बच्चे, ट्रस्टी बनकर रहो तो ममत्व मिट जाये। परन्तु ट्रस्टी बनना मासी का घर नहीं है। यह खुद ट्रस्टी बने हैं, बच्चों को भी ट्रस्टी बनाते हैं। यह कुछ भी लेते हैं क्या? कहते हैं तुम ट्रस्टी हो सम्भालो। ट्रस्टी बने तो फिर ममत्व मिट जाता है। कहते भी हैं ईश्वर का सब कुछ दिया हुआ है। फिर कुछ नुकसान पड़ता है या कोई मर जाता है तो बीमार हो पड़ते हैं। मिलता है तो खुशी होती है। जबकि कहते हो ईश्वर का दिया हुआ है तो फिर मरने पर रोने की क्या दरकार है? परन्तु माया कम नहीं है, मासी का घर थोड़ेही है। इस समय बाप कहते हैं तुमने हमको बुलाया है कि इस पतित दुनिया में हम नहीं रहना चाहते हैं, हमको पावन दुनिया में ले चलो, साथ ले चलो परन्तु इसका अर्थ भी समझते नहीं। पतित-पावन आयेगा तो जरूर शरीर खत्म होंगे ना, तब तो आत्माओं को ले जायेंगे। तो ऐसे बाप के साथ प्रीत बुद्धि होनी चाहिए। एक से ही लव रखना है, उनको ही याद करना है। माया के तूफान तो आयेंगे। कर्मेन्द्रियों से कोई विकर्म नहीं करना चाहिए। वह बेकायदे हो जाता है। बाप कहते हैं मैं आकर इस शरीर का आधार लेता हूँ। यह इनका शरीर है ना। तुमको याद बाप को करना है। तुम जानते हो ब्रह्मा भी बाबा, शिव भी बाबा है। विष्णु और शंकर को बाबा नहीं कहेंगे। शिव है निराकार बाप। प्रजापिता ब्रह्मा है साकारी बाप। अब तुम साकार द्वारा निराकार बाप से वर्सा ले रहे हो। दादा इनमें प्रवेश करते हैं तब कहते हैं दादे का वर्सा बाप द्वारा हम लेते हैं। दादा (ग्रैन्ड फादर) है निराकार, बाप है साकार। यह वन्डरफुल नई बातें हैं ना। त्रिमूर्ति दिखाते हैं परन्तु समझते नहीं। शिव को उड़ा दिया है। बाप कितनी अच्छी-अच्छी बातें समझाते हैं तो खुशी रहनी चाहिए-हम स्टूडेन्ट हैं। बाबा हमारा बाप, टीचर, सतगुरू है। अभी तुम वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी बेहद के बाप से सुन रहे हो फिर औरों को सुनाते हो। यह 5 हज़ार वर्ष का चक्र है। कॉलेज के बच्चों को वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी समझानी चाहिए। 84 जन्मों की सीढ़ी क्या है, भारत की चढ़ती कला और उतरती कला कैसे होती है, यह समझाना है। सेकण्ड में भारत स्वर्ग बन जाता है फिर 84 जन्मों में भारत नर्क बनता है। यह तो बहुत ही सहज समझने की बात है। भारत गोल्डन एज से आइरन एज में कैसे आया है-यह तो भारतवासियों को समझाना चाहिए। टीचर्स को भी समझाना चाहिए। वह है जिस्मानी नॉलेज, यह है रूहानी नॉलेज। वह मनुष्य देते हैं, यह गॉड फादर देते हैं। वह है मनुष्य सृष्टि का बीजरूप, तो उनके पास मनुष्य सृष्टि का ही नॉलेज होगा। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) इस छी-छी देह से पूरा नष्टोमोहा बन ज्ञान के अतीन्द्रिय सुख में रहना है। बुद्धि में रहे अब यह दुनिया बदल रही है हम जाते हैं अपने सुखधाम।

2) ट्रस्टी बनकर सब कुछ सम्भालते हुए अपना ममत्व मिटा देना है। एक बाप से सच्ची प्रीत रखनी है। कर्मेन्द्रियों से कभी भी कोई विकर्म नहीं करना है।

वरदान:- सर्व कर्मेन्द्रियों की आकर्षण से परे कमल समान रहने वाले दिव्य बुद्धि और दिव्य नेत्र के वरदानी भव
बापदादा द्वारा हर ब्राह्मण बच्चे को जन्म होते ही दिव्य समर्थ बुद्धि और दिव्य नेत्र का वरदान मिला है। जो बच्चे अपने बर्थ डे की यह गिफ्ट सदा यथार्थ रीति यूज करते हैं वे कमल पुष्प के सामन श्रेष्ठ स्थिति के आसन पर स्थित रहते हैं। किसी भी प्रकार की आकर्षण – देह के सम्बन्ध, देह के पदार्थ व कोई भी कर्मेन्द्रिय उन्हें आकर्षित नहीं कर सकती। वे सर्व आकर्षणों से परे सदा हर्षित रहते हैं। वे स्वयं को कलियुगी पतित विकारी आकर्षण से किनारा किया हुआ महसूस करते हैं।
स्लोगन:- जब कहाँ भी आसक्ति न हो तब शक्ति स्वरूप प्रत्यक्ष हो।

अव्यक्त स्थिति का अनुभव करने के लिए विशेष होमवर्क

लगाव की रस्सियों को चेक करो। बुद्धि कहीं कच्चे धागों में भी अटकी हुई तो नहीं है? कोई सूक्ष्म बंधन भी न हो, अपनी देह से भी लगाव न हो – ऐसे स्वतंत्र अर्थात् स्पष्ट बनने के लिए बेहद के वैरागी बनो तब अव्यक्त स्थिति में स्थित रह सकेंगे।

TODAY MURLI 24 JANUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 24 January 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 23 January 2019 :- Click Here

24/01/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the spiritual Surgeon feeds you wonderful, first class nourishment of knowledge and yoga.Continue to offer this hospitality to everyone by serving them with this spiritual nourishment.
Question: What habit should you make effort to imbibe very firmly in order to claim your fortune of the kingdom of the world?
Answer: Make effort with your third eye of knowledge to see souls as brothers seated on their immortal thrones. Consider all to be brothers and give them knowledge. First consider yourself to be a soul and then explain to your brothers. Instil this habit in yourself and you will receive your fortune of the kingdom of the world. It is with this habit that the consciousness of the body will be removed. Storms of Maya and bad thoughts will not come and others will be struck very well by the arrows of knowledge.

Om shanti. The spiritual Father, who gives each of you the third eye of knowledge, sits here and explains to you spiritual children. No one, except the Father, can give you the third eye of knowledge. Now that you children have received the third eye of knowledge, you know that this old world is about to change. The poor people don’t know the One who will change it or how He will change it, because they don’t have the third eye of knowledge. You children have now received the third eye of knowledge with which you know the beginning, the middle and the end of the world. This is the saccharine of knowledge. Even one drop of saccharine is so sweet. There is just the one word of knowledge ‘Manmanabhav’; consider yourself to be a soul and remember the Father. The Father is showing you the path to the land of peace and the land of happiness. The Father has come to give you children your inheritance of heaven and so you children should have a great deal of happiness. It is said: There is no nourishment like happiness. It is as if it is nourishment for those who remain constantly happy and in pleasure. This is the powerful nourishment for staying in pleasure for 21 births. Continue to serve each other with this nourishment. You offer spiritual hospitality to everyone on the basis of shrimat. To give someone the Father’s introduction is also the true state of well-being. You sweet children know that you are receiving the nourishment of liberation-in-life from the unlimited Father. In the golden age, Bharat was liberated-in-life; it was pure. The Father gives very great and elevated nourishment. This is why there is the song: If you want to know about supersensuous joy, ask the gopes and gopis. This nourishment of knowledge and yoga is first class and wonderful and it is only the one spiritual Surgeon who has this nourishment. No one else knows about this nourishment. The Father says: Sweet children, I have brought gifts on the palms of My hands for you. These gifts of liberation and liberation-in-life remain with Me. It is I who come to give you these every cycle. Then Ravan snatches them away. Therefore, how high your mercury of happiness should rise in you children! You know that it is only the one Father, Teacher and true Satguru who takes you back with Him. You receive the kingdom of the world from the mo stbeloved Father. This is not a small thing. You should always remain cheerful. “Godly student life is the best .  This saying applies to this time. Then, in the new world, too, you will continue to celebrate in happiness. People of the world do not know when true happiness is celebrated. Human beings don’t have any knowledge of the golden age. So, they continue to celebrate it here. However, where can happiness come from in this old tamopradhan world? People here continue to cry out in distress. This is the world of such sorrow. The Father shows you children a very easy path. Stay at home with your family and remain as pure as a lotus. Remember Me while at your business etc. There is that lover and beloved; they continue to remember one another. That one is his beloved and he is her lover. However, here, it is not like that. Here, you are lovers of the Beloved for birth after birth. The Father does not become your lover. You remember that Beloved in order to call Him here. You call out to Him even more when there is lot of sorrow. This is why there is the saying: Everyone remembers God at the time of suffering and no one remembers him at the time of happiness. At this time, the Father is the Almighty Authority. Day by day, Maya is also becoming a tamopradhan almighty authority. Therefore, the Father says: Sweet children, now become soul conscious. Consider yourselves to be souls and remember Me, your Father, and, together with this, imbibe divine virtues and you will become like Lakshmi and Narayan. The main aspect in this study is remembrance. You have to remember the highest-on-high Father with a lot of love. That Father is the One who establishes the new world. The Father says: I have come to make you children into the masters of the world. This is why you must remember Me so that your sins of many births can be cut away. People call out to the Father, the Purifier. Now that the Father has come, you definitely have to become pure. The Father is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. The golden age was definitely a pure world and so all were happy there. Now, once again, the Father says: Children, remember the land of peace and the land of happiness. This is now the confluence age. The Boatman is taking you from this shore across to the other side. There is not only one boat; the whole world is like a big ship. He takes that across. You sweet children should have so much happiness. For you, there is nothing but happiness. Wah! The unlimited Father is teaching us! You have not heard this before nor have you studied this. God speaks: I teach you Raja Yoga. I am teaching you spiritual children Raja Yoga, and so you should study it fully. You should study it and also imbibe it fully. Everyone is always numberwise in studying anyway. You should look at yourself: Am I the highest, average or the lowest? The Father says: Check yourself: Am I worthy of claiming a high status? Do I do spiritual service? The Father says: Children, become serviceable and follow the Father. I have come for the sake of service I do service every day. This is why I have taken this one’s chariot. When this one’s chariot becomes ill, I sit in this one and write the murli. I cannot speak through the mouth, and I therefore write it down instead so that you children don’t miss a murli. Therefore, I am also on service. This is spiritual service. The Father explains to you sweetest children: Children, you too should engage yourselves in the Father’s serviceOn God f atherly Service. The Father, the Master of the whole world, has come to make you into the masters of the world. Those who make good effort are called mahavirs. It is seen who the mahavirs are who follow Baba’s directions. The Father’s order is: Consider yourselves to be souls and see others as brothers. Forget those bodies. Baba does not see bodies either. The Father says: I only see souls. However, there is the knowledge that a soul cannot speak without a body. I have come into this body; I have taken it on loan. Only when a soul is in a body can he study. Baba sits here (middle of the forehead). This is the immortal throne. A soul is an immortal image. A soul does not become smaller or larger. Bodies become smaller or larger. The middle of the forehead is the throne of each soul. Everyone’s body is different. The immortal thrones of some are those of men and the immortal thrones of others are those of women. The immortal thrones of some are those of children. The Father sits here and teaches spiritual drill to you children. Whenever you talk to anyone, first of all consider yourself to be a soul. I, the soul, am talking to this brother. Give the Father’s message to remember Shiv Baba. It is by having remembrance that the alloy will be removed. When alloy is mixed in, the value of the gold decreases. When alloy becomes mixed into you souls, you even become valueless. You have to become pure again. You souls have now each received a third eye of knowledge. See your brothers through that eye. By having the vision of brotherhood your sense organs will not become mischievous. If you want to claim your fortune of the kingdom and become the masters of the world, make effort. Consider everyone to be your brother and donate knowledge to them. This habit will then become firm. All of you are true brothers. The Father has come from up above and you too have come from up above. The Father, together with the children, is doing service. The Father gives you courage to do service. You then have courage. Therefore, you should practise this: I, the soul, am teaching my brother. It is the soul that studies. This is called spiritual knowledge which you receive from the spiritual Father. The Father comes and gives you this knowledge at the confluence age: Consider yourselves to be souls. You came bodiless and adopted bodies here and played your parts for 84 births. You now have to go back again. Therefore, consider yourselves to be souls and have the vision of brotherhood. You have to make this effort. You have to make your own effort. What concern do we have with others? Charity begins at home, that is, first consider yourself to be a soul and explain to your brothers and the arrow will strike the target well. You have to fill yourselves with this force. Only when you make effort will you claim a high status. The Father has come to give you the fruit, and so you should make effort. You also have to tolerate a few things. Just remain silent when anyone says anything wrong. What can others do if you remain silent? Clapping takes place with two hands. If the first one claps with the mouth but the other one remains silent, then the first one will automatically become silent. Only when there is the clapping of two hands is there noise. You children have to bring benefit to each other. The Father explains: Children, if you want to remain constantly happy, become “Manmanabhav”: consider yourselves to be souls and remember the Father. Look at souls, your brothers. Give this knowledge to your brothers. When you conduct meditation, if you consider yourself to be a soul and continue to see others as brothers, good service will then be done. Baba has said: Explain to your brothers. All the brothers take their inheritance from the Father. You Brahmin children only receive this spiritual knowledge once. You are now Brahmins and will then become deities. You cannot leave this confluence age. Otherwise, how could you go across? You cannot jump over it. This is the wonderful confluence age. You children have to instil the habit of staying on the spiritual pilgrimage. This is for your benefit. You have to give the Father’s teachings to your brothers. The Father says: I am giving you souls this knowledge. I only see souls. When a human being talks to another human being, he looks at the face. You speak to souls and so you have to look at the soul. Although you give knowledge with your body, you have to break the consciousness of the body. You souls understand that the Supreme Soul, the Father, is giving you this knowledge. The Father says: I too look at souls. Souls also say: We are looking at the Supreme Soul, the Father. We are receiving knowledge from Him. This is called the give and take of spiritual knowledge of one soul with another. Knowledge is within the soul. The knowledge has to be given to the soul. This is like power. If your knowledge is filled with power, it will instantly strike the target when you explain to others. The Father says: Practise this and see if the arrow strikes the target. Instil this new habit and the consciousness of the body will be removed and fewer storms of Maya will come. You will not have any bad thoughts. The criminal eye will not remain either. We souls have been around the cycle of 84 births. The play is now about to end. You now have to stay in remembrance of Baba. Change from tamopradhan to satopradhan with remembrance and you will become the masters of the satopradhan world. It is so easy! The Father knows that it is His part to give teachings to the children. This is not a new thing. I have to come every 5000 years. I am bound by this bondage. I sit here and explain to you children: Sweet children, remain on the pilgrimage of remembrance and your last thought will lead you to your destination. This is the final period. Remember Me alone and you will receive salvation. Only once do you children receive these teachings for becoming soul conscious. This is such wonderful knowledge! Baba is wonderful and Baba’s knowledge is also wonderful. No one else can tell you this at any time. It is now time to return home. This is why the Father says: Sweet children, practise this. Consider yourselves to be souls and give knowledge to souls. You have to use your third eye to see others as brothers. This is the greatest effort. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Just as the Father has come on spiritual service for you children, follow the Father in the same way and do spiritual service. Follow the Father’s directionsand eat the nourishing food of happiness and serve it to others.
  2. If anyone says anything wrong, just remain silent. There should not be clapping of the mouth. You have to tolerate things.
Blessing: May you use the facilities of silence and recognise Maya from a distance and chase her away and become a conqueror of Maya.
Maya will come till the last moment, but it is Maya’s duty to come and your duty to chase her away from a distance. If Maya comes and shakes you and you then chase her away, that is also a waste of time. Therefore, with the facilities of silence , from a distance recognise that that is Maya. Do not let her come close to you. If you think, “What can I do? How can I do this? I am still an effort-maker…”, it is like offering hospitality to Maya and you then become distressed. Therefore, recognise her from a distance and chase her away and you will become a conqueror of Maya.
Slogan: Let the lines of elevated fortune emerge and the lines of old sanskars will then merge.

*** Om Shanti ***

Special effort to become equal to Father Brahma.

The creator of a tree is its seed, and when the final stage of the tree comes, the seed comes up above. In the same way, experience yourself to be an unlimited master creator at the top of the kalpa tree. Together with the Father, be a master seed at the top of the tree and spread rays of powers, virtues, good wishes and pure feelings, love and co-operation.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 24 JANUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 24 January 2019

To Read Murli 23 January 2019 :- Click Here
24-01-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

‘मीठे बच्चे – रूहानी सर्जन तुम्हें ज्ञान-योग की फर्स्टक्लास वन्डरफुल खुराक खिलाते हैं, यही रूहानी खुराक एक दो को खिलाते सबकी खातिरी करते रहो “
प्रश्नः- विश्व का राज्य भाग्य लेने के लिए कौन सी एक मेहनत करो? पक्की-पक्की आदत डालो?
उत्तर:- ज्ञान के तीसरे नेत्र से अकाल तख्तनशीन आत्मा भाई को देखने की मेहनत करो। भाई-भाई समझ सभी को ज्ञान दो। पहले खुद को आत्मा समझ फिर भाईयों को समझाओ, यह आदत डालो तो विश्व का राज्य भाग्य मिल जायेगा। इसी आदत से शरीर का भान निकल जायेगा, माया के तूफान वा बुरे संकल्प भी नहीं आयेंगे। दूसरों को ज्ञान का तीर भी अच्छा लगेगा।

ओम् शान्ति। ज्ञान का तीसरा नेत्र देने वाला रूहानी बाप बैठ रूहानी बच्चों को समझाते हैं। ज्ञान का तीसरा नेत्र सिवाए बाप के और कोई दे नहीं सकता। अभी तुम बच्चों को ज्ञान का तीसरा नेत्र मिला है। तुम जानते हो अब यह पुरानी दुनिया बदलने वाली है। बिचारे मनुष्य नहीं जानते कि कौन बदलाने वाला है और कैसे बदलाते हैं क्योंकि उन्हों को ज्ञान का तीसरा नेत्र ही नहीं है। तुम बच्चों को अभी ज्ञान का तीसरा नेत्र मिला है जिससे तुम सृष्टि के आदि मध्य अन्त को जान गये हो। यह है ज्ञान की सैक्रीन। सैक्रीन की एक बूंद भी कितनी मीठी होती है। ज्ञान का भी एक ही अक्षर है मन्मनाभव। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। बाप शान्तिधाम और सुखधाम का रास्ता बता रहे हैं। बाप आये हैं बच्चों को स्वर्ग का वर्सा देने, तो बच्चों को कितनी खुशी रहनी चाहिए। कहते भी हैं खुशी जैसी खुराक नहीं। जो सदैव खुशी मौज में रहते हैं उनके लिए वह जैसे खुराक होती है। 21 जन्म मौज में रहने की यह जबरदस्त खुराक है। यही खुराक सदैव एक दो को खिलाते रहो। तुम श्रीमत पर सभी की रूहानी खातिरी करते हो। सच्ची-सच्ची खुश-खैराफत भी यह है – किसको बाप का परिचय देना। मीठे बच्चे जानते हैं बेहद के बाप द्वारा हमको जीवनमुक्ति की खुराक मिलती है। सतयुग में भारत जीवनमुक्त था, पावन था। बाप बहुत बड़ी ऊंची खुराक देते हैं तब तो गायन है अतीन्द्रिय सुख पूछना हो तो गोप-गोपियों से पूछो। यह ज्ञान और योग की कितनी फर्स्ट क्लास वन्डरफुल खुराक है और यह खुराक एक ही रूहानी सर्जन के पास है। और किसको इस खुराक का मालूम ही नहीं है।

बाप कहते हैं मीठे बच्चों तुम्हारे लिए हथेली पर सौगात ले आया हूँ। मुक्ति, जीवनमुक्ति की यह सौगात मेरे पास ही रहती है। कल्प-कल्प मैं ही आकर तुमको देता हूँ। फिर रावण छीन लेता है। तो अभी तुम बच्चों को कितना खुशी का पारा चढ़ा रहना चाहिए। तुम जानते हो हमारा एक ही बाप, टीचर और सच्चा-सच्चा सतगुरू है जो हमको साथ ले जाते हैं। मोस्ट बिलवेड बाप से विश्व की बादशाही मिलती है, यह कम बात है क्या! सदैव हर्षित रहना चाहिए। गॉडली स्टूडेन्ट लाइफ इज दी बेस्ट। यह अभी का ही गायन है। फिर नई दुनिया में भी तुम सदैव खुशियाँ मनाते रहेंगे। दुनिया नहीं जानती कि सच्ची-सच्ची खुशियाँ कब मनाई जायेंगी। मनुष्यों को तो सतयुग का ज्ञान ही नहीं है। तो यहाँ ही मनाते रहते हैं। परन्तु इस पुरानी तमोप्रधान दुनिया में खुशी कहाँ से आई! यहाँ तो त्राहि-त्राहि करते रहते हैं। कितना दु:ख की दुनिया है।

बाप तुम बच्चों को कितना सहज रास्ता बताते हैं, गृहस्थ – व्यवहार में रहते कमल फूल समान रहो। धन्धा-धोरी आदि करते भी मुझे याद करते रहो। जैसे आशिक और माशुक होते हैं, वह तो एक दो को याद करते रहते हैं। वह उनका आशिक, वह उनका माशुक होता है। यहाँ यह बात नहीं है, यहाँ तो तुम सभी एक माशुक के जन्म-जन्मान्तर से आशिक हो रहते हो। बाप तुम्हारा आशिक नहीं बनता। तुम उस माशुक को आने लिए याद करते आये हो। जब दु:ख जास्ती होता है तो जास्ती सुमिरण करते हैं, तब तो गायन भी है दु:ख में सुमिरण सब करें, सुख में करे न कोय। इस समय बाप भी सर्वशक्तिवान है, दिन-प्रतिदिन माया भी सर्वशक्तिवान-तमोप्रधान होती जाती है इसलिए अब बाप कहते हैं मीठे बच्चे देही-अभिमानी बनो। अपने को आत्मा समझ मुझ बाप को याद करो और साथ-साथ दैवीगुण भी धारण करो तो तुम ऐसे (लक्ष्मी-नारायण) बन जायेंगे। इस पढ़ाई में मुख्य बात है ही याद की। ऊंच ते ऊंच बाप को बहुत प्यार, स्नेह से याद करना चाहिए। वह बाप ही नई दुनिया स्थापन करने वाला है। बाप कहते हैं मैं आया हूँ तुम बच्चों को विश्व का मालिक बनाने इसलिए अब मुझे याद करो तो तुम्हारे अनेक जन्मों के पाप कट जायें। पतित-पावन बाप को ही बुलाते हैं ना। अब बाप आये हैं, तो जरूर पावन बनना पड़े। बाप दु:ख-हर्ता, सुख-कर्ता है। बरोबर सतयुग में पावन दुनिया थी तो सभी सुखी थे। अब बाप फिर से कहते हैं बच्चे, शान्तिधाम और सुखधाम को याद करते रहो। अभी है संगमयुग, खिवैया तुमको इस पार से उस पार ले जाते हैं। नईया कोई एक नहीं, सारी दुनिया जैसे एक बड़ा जहाज है, उनको पार ले जाते हैं।

तुम मीठे बच्चों को कितनी खुशियाँ होनी चाहिए। तुम्हारे लिए तो सदैव खुशी ही खुशी है। बेहद का बाप हमको पढ़ा रहे हैं, वाह! यह तो कब न सुना, न पढ़ा। भगवानुवाच, मैं तुमको राजयोग सिखाता हूँ। तुम रूहानी बच्चों को राजयोग सिखा रहा हूँ तो पूरी रीति सीखना चाहिए। धारणा करनी चाहिए। पूरी रीति पढ़ना चाहिए। पढ़ाई में नम्बरवार तो सदैव होते ही हैं। अपने को देखना चाहिए – मैं उत्तम हूँ, मध्यम हूँ वा कनिष्ट हूँ? बाप कहते हैं अपने को देखो मैं ऊंच पद पाने के लायक हूँ? रूहानी सर्विस करता हूँ? क्योंकि बाप कहते हैं बच्चे सर्विसएबुल बनो, फालो करो। मैं आया ही हूँ सर्विस के लिए, रोज़ सर्विस करता हूँ, इसलिए ही तो यह रथ लिया है। इनका रथ बीमार पड़ जाता है तो मैं इनमें बैठ मुरली लिखता हूँ। मुख से तो बोल नहीं सकते तो मैं लिख देता हूँ, ताकि बच्चों के लिए मुरली मिस न हो तो मैं भी सर्विस पर हूँ ना। यह है रूहानी सर्विस।

बाप मीठे-मीठे बच्चों को समझाते हैं, बच्चे तुम भी बाप की सर्विस में लग जाओ। आन गॉड फादरली सर्विस। सारे विश्व का मालिक बाप ही तुमको विश्व का मालिक बनाने आये हैं। जो अच्छा पुरुषार्थ करते हैं उनको महावीर कहा जाता है। देखा जाता है कौन महावीर हैं जो बाबा के डायरेक्शन पर चलते हैं। बाप का फरमान है अपने को आत्मा समझ भाई-भाई देखो। इस शरीर को भूल जाओ। बाबा भी इन शरीरों को नहीं देखते हैं। बाप कहते हैं मैं आत्माओं को देखता हूँ। बाकी यह तो ज्ञान है कि आत्मा शरीर बिगर बोल नहीं सकती। मैं भी इस शरीर में आया हूँ, लोन लिया हुआ है। शरीर के साथ ही आत्मा पढ़ सकती है। बाबा की बैठक यहाँ है। यह है अकाल तख्त, आत्मा अकालमूर्त है। आत्मा कब छोटी बड़ी नहीं होती है, शरीर छोटा बड़ा होता है। जो भी आत्मायें हैं, उन सभी का तख्त यह भृकुटी का बीच है। शरीर तो सभी के भिन्न-भिन्न होते हैं। किसका अकाल तख्त पुरुष का है, किसका अकाल तख्त स्त्री का है, किसका अकाल तख्त बच्चे का है। बाप बैठ बच्चों को रूहानी ड्रिल सिखलाते हैं। जब कोई से बात करो तो पहले अपने को आत्मा समझो। हम आत्मा फलाने भाई से बात करते हैं। बाप का पैगाम देते हैं कि शिवबाबा को याद करो। याद से ही जंक उतरनी है। सोने में जब अलाय (खाद) पड़ती है तो सोने की वैल्यु ही कम हो जाती है। तुम आत्माओं में भी जंक पड़ने से वैल्युलेस हो गये हो। अब फिर पावन बनना है। तुम आत्माओं को अब ज्ञान का तीसरा नेत्र मिला है, उस नेत्र से अपने भाईयों को देखो। भाई-भाई को देखने से कर्मेन्द्रियाँ कभी चंचल नहीं होंगी। राज्य-भाग्य लेना है, विश्व का मालिक बनना है तो यह मेहनत करो। भाई-भाई समझ सभी को ज्ञान दो तो फिर यह आदत पक्की हो जायेगी। सच्चे-सच्चे ब्रदर्स तुम सभी हो। बाप भी ऊपर से आये हैं, तुम भी आये हो। बाप बच्चों सहित सर्विस कर रहे हैं। सर्विस करने की बाप हिम्मत देते हैं। हिम्मते मर्दा… तो यह प्रैक्टिस करनी है – मैं आत्मा भाई को पढ़ाता हूँ। आत्मा पढ़ती है ना। इसको प्रीचुअल नॉलेज कहा जाता है, जो रूहानी बाप से ही मिलती है। संगम पर ही बाप आकर यह नॉलेज देते हैं कि अपने को आत्मा समझो। तुम नंगे (अशरीरी) आये थे फिर यहाँ शरीर धारण कर तुमने 84 जन्म पार्ट बजाया है। अब फिर वापिस चलना है इसलिए अपने को आत्मा समझ भाई-भाई की दृष्टि से देखना है। यह मेहनत करनी है। अपनी मेहनत करनी है, दूसरे में हमारा क्या जाता। चैरिटी बिगेन्स एट होम अर्थात् पहले खुद को आत्मा समझ फिर भाईयों को समझाओ तो अच्छी रीति तीर लगेगा। यह जौहर भरना है। मेहनत करेंगे तब ही ऊंच पद पायेंगे। बाप आये ही हैं फल देने लिए तो मेहनत करनी पड़े। कुछ सहन भी करना पड़ता है।

कोई उल्टी-सुल्टी बात बोले तो तुम चुप रहो। तुम चुप रहेंगे तो फिर दूसरा क्या करेगा! ताली दो हाथ से बजती है। एक ने मुख की ताली बजाई, दूसरा चुप कर दे तो वह आपेही चुप हो जायेंगे। ताली से ताली बजने से आवाज हो जाता है। बच्चों को एक दो का कल्याण करना है। बाप समझाते हैं बच्चे, सदैव खुशी में रहने चाहते हो तो मन्मनाभव। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। भाईयों (आत्माओं) तरफ देखो। भाईयों को भी यह नॉलेज दो। योग कराते हो तो भी अपने को आत्मा समझ भाईयों को देखते रहेंगे तो सर्विस अच्छी होगी। बाबा ने कहा है भाईयों को समझाओ। भाई सभी बाप से वर्सा लेते हैं। यह रूहानी नॉलेज एक ही बार तुम ब्राह्मण बच्चों को मिलती है। तुम ब्राह्मण हो फिर देवता बनने वाले हो। इस संगमयुग को थोड़ेही छोड़ेंगे, नहीं तो पार कैसे जायेंगे! कूदेंगे थोड़ेही। यह वन्डरफुल संगमयुग है। तो बच्चों को रूहानी यात्रा पर रहने की आदत डालनी है। तुम्हारे ही फायदे की बात है। बाप की शिक्षा भाईयों को देनी है। बाप कहते हैं मैं तुम आत्माओं को ज्ञान दे रहा हूँ, आत्मा को ही देखता हूँ। मनुष्य-मनुष्य से बात करेंगे तो उनके मुँह को देखेंगे ना। तुम आत्मा से बात करते हो तो आत्मा को ही देखना है। भल शरीर द्वारा ज्ञान देते हो परन्तु इसमें शरीर का भान तोड़ना होता है। तुम्हारी आत्मा समझती है परमात्मा बाप हमको ज्ञान दे रहे हैं। बाप भी कहते हैं आत्माओं को देखता हूँ, आत्मायें भी कहती हैं हम परमात्मा बाप को देख रहे हैं। उनसे नॉलेज ले रहे हैं, इसको कहा जाता है प्रीचुअल ज्ञान की लेन-देन, आत्मा की आत्मा के साथ। आत्मा में ही ज्ञान है, आत्मा को ही ज्ञान देना है। यह जैसे जौहर है। तुम्हारे ज्ञान में यह जौहर भर जायेगा तो किसको भी समझाने से झट तीर लग जायेगा। बाप कहते हैं प्रैक्टिस करके देखो, तीर लगता है ना। यह नई आदत डालनी है तो फिर शरीर का भान निकल जायेगा। माया के तूफान कम आयेंगे। बुरे संकल्प नहीं आयेंगे। क्रिमिनल आई भी नहीं रहेगी। हम आत्मा ने 84 का चक्र लगाया। अब नाटक पूरा होता है। अब बाबा की याद में रहना है। याद से ही तमोप्रधान से सतोप्रधान बन, सतोप्रधान दुनिया के मालिक बन जायेंगे। कितना सहज है। बाप जानते हैं बच्चों को यह शिक्षा देना भी मेरा पार्ट है। कोई नई बात नहीं। हर 5000 वर्ष बाद हमको आना होता है। मैं बंधायमान हूँ। बच्चों को बैठ समझाता हूँ मीठे बच्चे रूहानी याद की यात्रा में रहो तो अन्त मते सो गति हो जायेगी। यह अन्त काल है ना। मामेकम् याद करो तो तुम्हारी सद्गति हो जायेगी। यह देही-अभिमानी बनने की शिक्षा एक ही बार तुम बच्चों को मिलती है। कितना वन्डरफुल ज्ञान है। बाबा वन्डरफुल है तो बाबा का ज्ञान भी वन्डरफुल है। कब कोई बता न सके। अभी वापस चलना है इसलिए बाप कहते हैं मीठे बच्चों यह प्रैक्टिस करो। अपने को आत्मा समझ आत्मा को ज्ञान दो। तीसरे नेत्र से भाई-भाई को देखना है, यही बड़ी मेहनत है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) जैसे बाप बच्चों की रूहानी सर्विस पर आये हैं, ऐसे बाप को फालो कर रूहानी सर्विस करनी है, बाप के डायरेक्शन पर चल, खुशी की खुराक खानी और खिलानी है।

2) कोई उल्टी-सुल्टी बात बोले तो चुप रहना है, मुख की ताली नहीं बजानी है। सहन करना है।

वरदान:- साइलेन्स के साधनों द्वारा माया को दूर से पहचान कर भगाने वाले मायाजीत भव
माया तो लास्ट घड़ी तक आयेगी लेकिन माया का काम है आना और आपका काम है दूर से भगाना। माया आवे और आपको हिलाये फिर आप भगाओ, यह भी टाइम वेस्ट हुआ इसलिए साइलेन्स के साधनों से आप दूर से ही पहचान लो कि ये माया है। उसे पास में आने न दो। अगर सोचते हो क्या करूं, कैसे करूं, अभी तो पुरुषार्थी हूँ …तो यह भी माया की खातिरी करते हो, फिर तंग होते हो इसलिए दूर से ही परखकर भगा दो तो मायाजीत बन जायेंगे।
स्लोगन:- श्रेष्ठ भाग्य की रेखाओं को इमर्ज करो तो पुराने संस्कारों की रेखायें मर्ज हो जायेंगी।

ब्रह्मा बाप समान बनने के लिए विशेष पुरुषार्थ

जैसे वृक्ष का रचयिता बीज, जब वृक्ष की अन्तिम स्टेज आती है तो वह फिर से ऊपर आ जाता है। ऐसे बेहद के मास्टर रचयिता सदा अपने को इस कल्प वृक्ष के ऊपर खड़ा हुआ अनुभव करो, बाप के साथ-साथ वृक्ष के ऊपर मास्टर बीजरूप बन शक्तियों की, गुणों की, शुभभावना-शुभकामना की, स्नेह की, सहयोग की किरणें फैलाओ।

Font Resize