24 december ki murli

TODAY MURLI 24 DECEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 24 December 2020

24/12/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, this body, which is like a toy, works with the living key of the soul. Consider yourselves to be souls and you will become fearless.
Question: What name can you give to souls who continue to come down and perform a play through their bodies?
Answer: Puppets. Just as puppets play parts in a puppet show, so you souls too have continued to come down like puppets in this play of 5000 years. The Father has come to show you puppets the way to climb back up. Now apply the key of shrimat and you will go up above.
Song: The moth has been burnt in the gathering for the Flame.

Om shanti. The spiritual Father gives shrimat to the spiritual children. When someone’s behaviour is not good, his parents tell him: May God give you good directions! The poor people don’t understand that God really does give directions. You children are now receiving God’s directions, that is, the spiritual Father is giving you children elevated directions to make you elevated. You now understand that you are becoming the most elevated of all. The Father is giving us such elevated directions! We are following His directions and changing from ordinary humans into deities. This proves that only that Father can change ordinary humans into deities. Sikhs sing that it didn’t take God long to change humans into deities. Therefore, He definitely gives you the directions to change you from ordinary humans into deities. His praise is sung: The incorporeal One, the One who does everything, the Fearless One. All of you have to become fearless. You consider yourselves to be souls, do you not? Souls don’t have fear. The Father says: Become fearless! What is there to be afraid of? You don’t have any fear. You continue to take shrimat from the Father while sitting at home. Whose shrimat is it? Who gives it? These things are not mentioned in the Gita. You children now understand these things. The Father says: You have become impure. Now, in order to become pure, constantly remember Me alone. This gathering to become the most elevated only takes place at the confluence age. Many come and take shrimat. This is called a mela (meeting) of the children with God. God is incorporeal and the children (souls), are also incorporeal. You have to instill in yourselves the firm habit of considering yourselves to be souls. When a toy is wound up with a key, it begins to dance. So, each soul is the key for the body which is like a toy. If there were no soul in it, the body couldn’t do anything. You are living toys. If a toy is not wound up with a key, it’s of no use; it comes to a standstill. A soul is a living key; it is an imperishable and immortal key. The Father explains: I only look at souls. Instil the firm habit in yourself. It is the soul that listens. The body cannot work without this key. This one has received an imperishable key. This key lasts for 5000 years. Because the key is living, the cycle also keeps revolving. This body is a living toy. The Father too is a living soul. When the key stops turning, the Father comes and shows you how to start turning it again: Remember Me and the key will be recharged, that is, from tamopradhan, each soul will become satopradhan, just as petrol is put into the tank of a car when it becomes empty. You souls now understand how to fill yourselves with petrol. When a battery becomes discharged, it is then filled with power. When a battery becomes discharged, its light goes out. The batteries of you souls are now being recharged. The more you stay in remembrance, the more you souls will be filled with power. Having gone around the cycle of 84 births, the batteries have become empty. Souls have gone through the stages of sato, rajo and tamo. The Father has now come to wind you up with the key once again, that is, to recharge the batteries. What do human beings become like when they don’t have any power? So, you batteries now have to be recharged with remembrance. You can also be called human batteries. The Father says: Have yoga with Me. Only the one Father gives this knowledge. Only that one Father is the Bestower of Salvation. You batteries arenow being fully recharged so that you will then continue to play your parts for the full 84 births. Just as puppets dance in a drama, so you souls are like those puppets. Having descended from up above, you have gradually come right down over 5000 years. The Father has come again to make you climb up. That is just a toy. The Father explains to you the meaning of the stage of ascending and the stage of descending; it is a matter of 5000 years. You understand that you are being wound up with the key of shrimat. When we become fully satopradhan we will repeat our whole parts. This is such an easy aspect to understand and explain. Nevertheless, the Father says: Only those who understood this in the previous cycle will understand it. No matter how much you beat your heads, they will not understand any more. The Father gives everyone the same explanation: Remember the Father wherever you may be sitting. Even if no teacher is there in front of you, you can still sit and remember Him. You know that your sins will only be absolved by having remembrance of the Father. Therefore, you have to sit in remembrance of Him. There is no need for someone to sit you down especially to have remembrance. Remember the Father while eating, drinking, bathing and doing everything. Someone may come and sit in front of you for some time. It isn’t that that person is helping you; no. Each of you has to help yourself. God has given you directions for what to do so that your intellects can become divine. You are given this temptation. He continues to give everyone shrimat. Certainly, some people’s intellects are weak and other people’s intellects are sharp. If you don’t have yoga with the One who is pure, your batteries cannot become charged. Then, neither do you accept the Father’s shrimat nor are you able to have yoga. You now feel that your batteries are becoming recharged. From tamopradhan you definitely have to become satopradhan. It is at this time that you receive shrimat from the Supreme Soul. The world doesn’t understand this at all! The Father says: You become deities through these directions of Mine. There is nothing higher than this. This knowledge will not remain there. This drama is predestined. Only at the confluence age does the Father come to make you most elevated. The memorial of this is celebrated on the path of devotion. They celebrate Dashera (the burning of an effigy of Ravan). Dashera is when the Father comes. Everything repeats every 5000 years. Only you children receive God’s directions through which you become elevated. You souls were satopradhan. Then, while gradually coming down, you became tamopradhan and degraded. The Father now teaches you knowledge and yoga and makes you satopradhan and elevated. He shows you how you came down the ladder. The drama continues. No one knows the beginning, the middle or the end of this drama. The Father has explained the drama to you, and so you now remember it. He is not able to tell you the biography of each one; they cannot be written for you to read and relate. The Father sits here and explains this. You are now becoming Brahmins and you will then become deities. The Father has explained: I establish all three religions: Brahmin, deity and warrior. It is now in your intellects that through the Father you have come to belong to the Brahmin clan and that you will become part of the sun dynasty and then the moon dynasty. Those who fail will only become part of the moon dynasty. Fail in which subject? In yoga. The knowledge of how you take 84 births is explained very easily. People speak of 8.4 million births and so they have moved so far away! You now receive directions from God. God only comes once. Therefore, you only receive His directions once. There used to be the one deity religion. Before that, it was the confluence age. They definitely received God’s directions. The Father comes and changes the world. You are now changing. It is at this time that the Father changes you. You say that you have been changing every cycle and that you will continue to change. This battery is living whereas that battery is non-living. You children understand that the Father has come after 5000 years. He gives you the most elevated directions of all. You receive elevated directions from God, the Highest on High, through which you claim a high status. When someone comes to you, ask him: You are a child of God, are you not? God is Shiv Baba. They celebrate the birthday of Shiva. He is also the Bestower of Salvation. He doesn’t have a body of His own, so through whom would He give directions? You too are souls and you speak through your bodies. A soul cannot do anything without a body. How does the incorporeal Father come? It is remembered that He enters a chariot. Someone then made up something and others made up something else about all of this. They have even shown the Trimurti in the subtle region. The Father explains: All of those things are matters of visions. However, the whole of creation exists here. Therefore, the Father, the Creator, also has to come here. He has to enter the impure world in order to purify you. Here, He is directly purifying you children. You understand this, and yet, in spite of that, the knowledge does not sit in your intellects. You are unable to explain to anyone. You don’t follow shrimat and so you can’t become the most elevated of all. What status will those who don’t understand anything claim? The more service you do, the higher the status you will claim. The Father has said: Give your bones in doing service. Do all-round service. We are ready to give our bones in doing the Father’s service. Many children are desperate to do service. Baba, liberate us so that we can engage ourselves in doing service through which many can benefit! The whole world does physical service, yet they have only been coming down the ladder through that. Now, through this spiritual service, there is the stage of ascending. Each of you can understand when someone is doing more service than you. Some daughters are very good and serviceable and so they can look after a centre. They sit in class, numberwise. Here, you are not made to sit, numberwise. Otherwise, you would have heart failure. You can understand this. If you don’t do service, your status will definitely be reduced. There are many levels of status, numberwise. However, that is the land of happiness and this is the land of sorrow. There, there are no illnesses etc. You have to use your intellect for everything. You can then understand that you will claim a low status because you don’t do service. Only by doing service can you receive a status. Check yourself. Each one of you knows your own stage. Mama and Baba have also been doing service. There are very good children too. Even though they may be working, they are told to take leave on half-pay and do service; there is nothing wrong with that. Those who are seated on Baba’s heart throne will then sit on the peacock throne, numberwise, according to their efforts. It is in this way that you are threaded on to the rosary of victory. You surrender yourselves and you also do service. If you have surrendered yourself but don’t do service, your status is reduced. This kingdom is established by your following shrimat. Have you ever heard this before? Have you ever heard about or seen a kingdom being established by studying? Yes, by giving donations and performing charity, you can take birth to a king. However, you would never have heard that you can claim a royal status by studying. No one knows this. The Father explains: You have taken the full 84 births. You now have to go up above. This is very easy. You understand this every cycle, numberwise, according to your efforts. The Father gives love and remembrance, numberwise, according to your efforts. He gives a lot of love and remembrance to those who are busy doing service. Therefore, check yourself to see whether you are seated on His heart throne. Can I become a bead of the rosary? Those who are uneducated will have to bow down in front of those who are educated. The Father says: Children, make effort! However, if it is not in their parts in the drama and however much you beat your head, they won’t climb up. There is one bad omen or another through body consciousness and then other vices come. The main, severe illness is body consciousness. In the golden age, there will be no mention of body consciousness. There, you will have the reward. It is here that the Father explains this. No one else can give you the shrimat to consider yourselves to be souls and to remember the Father constantly. This is the main thing. You should write: Incorporeal God speaks: Remember Me alone! Consider yourself to be a soul! Don’t even remember your body! Just as on the path of devotion they only worship Shiva, so, now, only I give you knowledge. All the rest is devotion. Only from Shiv Baba do you receive unadulterated knowledge. These jewels emerge from the Ocean of Knowledge. It is not a question of that ocean. This Ocean of Knowledge gives you children jewels of knowledge through which you become deities. Look what they have written in the scriptures! They have portrayed deities emerging from the ocean and giving jewels. This Ocean of Knowledge is giving you children jewels. You pick up jewels of knowledge. Previously, you used to pick up stones and so you became those with stone intellects. Now, by picking up these jewels, you become those with divine intellects. You are becoming lords of divinity. Lakshmi and Narayan, lords of divinity, were the rulers of the world. They have created many names and images on the path of devotion. In fact, Lakshmi and Narayan and lords of divinity are the same. The gathering (mela) for Pashupatinath (The Lord of all Species) that takes place in Nepal is also that of the Lord of Divinity. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Only pick up the jewels of knowledge that the Father gives you, not stones. Protect yourself from the severe illness of body consciousness.
  2. In order to charge your batteryfully, have yoga with the Father, the Power House. Make effort to remain soul conscious. Remain fearless!
Blessing: May you become full of the experience of all relationships and all virtues and thereby become an image of perfection.
At the confluence age, you especially have to make yourself full of all attainments. Therefore, keep all your treasures, relationships, virtues and your duties in front of you and check whether you are experienced in all of these things. If something is missing in your experience of any of these, then make yourself full with that. If even one relationship or virtue is missing, you cannot be said to have a full stage or be an image of perfection. Therefore, experience the Father’s virtues and the virtues of your original form and you will then become an image of perfection.
Slogan: To come into force is also crying of the mind, so now close the file of crying.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 24 DECEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 24 December 2020

Murli Pdf for Print : – 

24-12-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – यह शरीर रूपी खिलौना आत्मा रूपी चैतन्य चाबी से चलता है, तुम अपने को आत्मा निश्चय करो तो निर्भय बन जायेंगे”
प्रश्नः- आत्मा शरीर के साथ खेल खेलते नीचे आई है इसलिए उसको कौन सा नाम देंगे?
उत्तर:- कठपुतली। जैसे ड्रामा में कठपुतलियों का खेल दिखाते हैं वैसे तुम आत्मायें कठपुतली की तरह 5 हज़ार वर्ष में खेल खेलते नीचे पहुँच गयी हो। बाप आये हैं तुम कठपुतलियों को ऊपर चढ़ने का रास्ता बताने। अब तुम श्रीमत की चाबी लगाओ तो ऊपर चले जायेंगे।
गीत:- महफिल में जल उठी शमा……..

ओम् शान्ति। रूहानी बाप रूहानी बच्चों को श्रीमत देते हैं – कभी कोई की चलन अच्छी नहीं होती तो माँ-बाप कहते हैं – तुमको शल ईश्वर मत देवे। बिचारों को यह पता ही नहीं कि ईश्वर सचमुच मत देते हैं। अभी तुम बच्चों को ईश्वरीय मत मिल रही है अर्थात् रूहानी बाप बच्चों को श्रेष्ठ मत दे रहे हैं श्रेष्ठ बनने के लिए। अभी तुम समझते हो हम श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ बन रहे हैं। बाप हमको कितनी ऊंच मत दे रहे हैं। हम उनकी मत पर चलकर मनुष्य से देवता बन रहे हैं। तो सिद्ध होता है मनुष्य को देवता बनाने वाला वही बाप है। सिक्ख लोग भी गाते हैं मनुष्य से देवता किये…. तो जरूर मनुष्य से देवता बनाने की मत देते हैं। उनकी महिमा भी गाई है – एकोअंकार.. कर्ता पुरुष, निर्भय…… तुम सब निर्भय हो जाते हो। अपने को आत्मा समझते हो ना। आत्मा को कोई भय नहीं रहता है। बाप कहते हैं निर्भय बनो। भय फिर काहे का। तुमको कोई भय नहीं। तुम अपने घर बैठे भी बाप की श्रीमत लेते रहते हो। अब श्रीमत किसकी? कौन देते हैं? यह बातें गीता में तो हैं नहीं। अभी तुम बच्चे समझते हो। बाप कहते हैं तुम पतित बन गये हो, अब पावन बनने के लिए मामेकम् याद करो। यह पुरूषोत्तम बनने का मेला संगमयुग पर ही होता है। बहुत आकर श्रीमत लेते हैं। इसको कहा जाता है ईश्वर के साथ बच्चों का मेला। ईश्वर भी निराकार है। बच्चे (आत्मायें) भी निराकार हैं। हम आत्मा हैं, यह पक्की-पक्की आदत डालनी है। जैसे खिलौने को चाबी दी जाती है तो डांस करने लग पड़ते हैं। तो आत्मा भी इस शरीर रूपी खिलौने की चाबी है। आत्मा इनमें न हो तो कुछ भी कर न सके। तुम हो चैतन्य खिलौने। खिलौने को चाबी नहीं दी जाए तो काम का नहीं रहेगा। खड़ा हो जायेगा। आत्मा भी चैतन्य चाबी है और यह अविनाशी, अमर चाबी है। बाप समझाते हैं मैं देखता ही हूँ आत्मा को। आत्मा सुनती है – यह पक्की आदत डालनी है। इस चाबी बिगर शरीर चल न सके। इनको भी चाबी अविनाशी मिली हुई है। 5 हज़ार वर्ष इसकी चाबी चलती है। चैतन्य चाबी होने कारण चक्र फिरता ही रहता है। यह हैं चैतन्य खिलौने। बाप भी चैतन्य आत्मा है। जब चाबी पूरी हो जाती है तो फिर बाप नयेसिर युक्ति बताते हैं कि मुझे याद करो तो फिर चाबी लग जायेगी अर्थात् आत्मा तमोप्रधान से सतोप्रधान बन जायेगी। जैसे मोटर से पेट्रोल खत्म होने पर फिर भरा जाता है ना। अभी तुम्हारी आत्मा समझती है – हमारे में पेट्रोल कैसे भरेगा! बैटरी खाली होती है फिर उनमें पावर भरी जाती है ना। बैटरी खाली होती है तो लाइट खत्म हो जाती है। अब तुम्हारी आत्मा रूपी बैटरी भरती है। जितना याद करेंगे उतना पावर भरती जायेगी। इतना 84 जन्मों का चक्र लगाए बैटरी खाली हो गई है। सतो, रजो, तमो में आई है। अब फिर बाप आये हैं चाबी देने अथवा बैटरी को भरने। पावर नहीं है तो मनुष्य कैसे बन जाते हैं। तो अब याद से ही बैटरी को भरना है, इनको हयुमन बैटरी कहें। बाप कहते हैं मेरे साथ योग लगाओ। यह ज्ञान एक ही बाप देते हैं। सद्गति दाता वह एक ही बाप है। अभी तुम्हारी बैटरी सारी भरती है जो फिर 84 जन्म पूरे पार्ट बजाते हो। जैसे ड्रामा में कठपुतलियाँ नाचती हैं ना। तुम आत्मायें भी ऐसे कठपुतलियों मिसल हो। ऊपर से उतरते 5 हज़ार वर्ष में एकदम नीचे आ जाते हो फिर बाप आकर ऊपर चढ़ाते हैं। वह तो एक खिलौना है। बाप अर्थ समझाते हैं चढ़ती कला और उतरती कला का, 5 हज़ार वर्ष की बात है। तुम समझते हो श्रीमत से हमको चाबी मिल रही है। हम फुल सतोप्रधान बन जायेंगे फिर सारा पार्ट रिपीट करेंगे। कितनी सहज बात है – समझने और समझाने की। फिर भी बाप कहते हैं समझेंगे वही जिन्होंने कल्प पहले समझा होगा। तुम कितना भी माथा मारो जास्ती समझेंगे ही नहीं। बाप समझ तो सबको एक जैसी ही देते हैं। कहाँ भी बैठे बाप को याद करना है। भल सामने ब्राह्मणी न हो तो भी तुम याद में बैठ सकते हो। मालूम है बाप की याद से ही हमारे विकर्म विनाश होंगे। तो उस याद में बैठ जाना है। कोई को बिठाने की दरकार नहीं है। खाते-पीते, स्नान आदि करते बाप को याद करो। थोड़ा टाइम दूसरा कोई सामने बैठ जाते हैं। ऐसे नहीं कि वह मदद करते हैं तुमको, नहीं। हर एक को अपने को ही मदद करनी है। ईश्वर ने तो मत दी है कि ऐसे-ऐसे करो तो तुम्हारी दैवी बुद्धि बन जायेगी। यह टैम्पटेशन दी जाती है। श्रीमत तो सबको देते रहते हैं। इतना जरूर है किसकी बुद्धि ठण्डी है, किसकी तेज है। पावन के साथ योग नहीं लगता तो बैटरी चार्ज नहीं होती। बाप की श्रीमत नहीं मानते हैं। योग लगता ही नहीं। तुम अभी फील करते हो हमारी बैटरी भरती जाती है। तमोप्रधान से सतोप्रधान तो जरूर बनना है। इस समय तुमको परमात्मा की श्रीमत मिल रही है। यह दुनिया बिल्कुल नहीं समझती। बाप कहते हैं मेरी इस मत से तुम देवता बन जाते हो, इससे ऊंच चीज़ कोई होती नहीं। वहाँ यह ज्ञान नहीं रहता। यह भी ड्रामा बना हुआ है। तुमको पुरुषोत्तम बनाने के लिए बाप संगम पर ही आते हैं, जिनका फिर यादगार भक्ति मार्ग में मनाते हैं, दशहरा भी मनाते हैं ना। जब बाप आता है तो दशहरा होता है। 5 हज़ार वर्ष बाद हर बात रिपीट होती है।

तुम बच्चों को ही यह ईश्वरीय मत अर्थात् श्रीमत मिलती है, जिससे तुम श्रेष्ठ बनते हो। तुम्हारी आत्मा सतोप्रधान थी, वह उतरते-उतरते तमोप्रधान भ्रष्ट बन जाती है। फिर बाप बैठ ज्ञान और योग सिखलाकर सतोप्रधान श्रेष्ठ बनाते हैं। बतलाते हैं तुम सीढ़ी नीचे कैसे उतरते हो। ड्रामा चलता रहता है। इस ड्रामा के आदि-मध्य-अन्त को कोई भी जानते नहीं हैं। बाप ने समझाया है अब तुमको स्मृति आई है ना। हर एक के जन्म की कहानी तो सुना नहीं सकेंगे। लिखी नहीं जाती जो पढ़कर सुनाई जाए। यह बाप बैठ समझाते हैं। अभी तुम सो ब्राह्मण बने हो फिर सो देवता बनना है। बाप ने समझाया है – ब्राह्मण, देवता, क्षत्रिय तीनों धर्म मैं स्थापन करता हूँ। अभी तुम्हारी बुद्धि में है – हम बाप द्वारा ब्राह्मण वंशी बनते हैं फिर सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी बनेंगे। जो नापास होते हैं वह चन्द्रवंशी बन जाते हैं। किसमें नापास? योग में। ज्ञान तो बहुत सहज समझाया है। कैसे तुम 84 का चक्र लगाते हो। मनुष्य तो 84 लाख कह देते तो कितना दूर चले गये हैं। अभी तुमको मिलती है ईश्वरीय मत। ईश्वर तो आते ही हैं एक बार। तो उनकी मत भी एक बार ही मिलेगी। एक देवी-देवता धर्म था। जरूर उन्हों को ईश्वरीय मत मिली थी, उसके आगे तो हुआ संगमयुग। बाप आकर दुनिया को बदलाते हैं। तुम अब बदल रहे हो। इस समय तुमको बाप बदलाते हैं। तुम कहेंगे कल्प-कल्प हम बदलते आये हैं, बदलते ही रहेंगे। यह चैतन्य बैटरी है ना। वह है जड़। बच्चों को मालूम हुआ है 5 हज़ार वर्ष बाद बाप आये हैं। श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ मत भी देते हैं। ऊंच ते ऊंच भगवान की ऊंच मत मिलती है – जिससे तुम ऊंच पद पाते हो। तुम्हारे पास जब कोई आते हैं तो बोलो तुम ईश्वर की सन्तान हो ना। ईश्वर शिवबाबा है, शिवजयन्ती भी मनाते हैं। वह है भी सद्गति दाता। उनको अपना शरीर तो है नहीं। तो किसके द्वारा मत देते हैं? तुम भी आत्मा हो, इस शरीर द्वारा बातचीत करते हो ना। शरीर बिगर आत्मा कुछ कर न सके। निराकार बाप भी आये कैसे? गायन भी है रथ पर आते हैं। फिर कोई ने क्या, कोई ने क्या बैठ बनाया है। त्रिमूर्ति भी सूक्ष्मवतन में बैठ दिखाया है। बाप समझाते हैं – यह सब हैं साक्षात्कार की बातें। बाकी रचना तो सारी यहाँ है ना। तो रचता बाप को भी यहाँ आना पड़े। पतित दुनिया में ही आकर पावन बनाना है। यहाँ बच्चों को डायरेक्ट पावन बना रहे हैं। समझते भी हैं फिर भी ज्ञान बुद्धि में बैठता नहीं। कोई को समझा नहीं सकते। श्रीमत को उठाते नहीं तो श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ बन नहीं सकते। जो समझते ही नहीं वह क्या पद पायेंगे। जितना सर्विस करेंगे – उतना ऊंच पद पायेंगे। बाप ने कहा है – हड्डी-हड्डी सर्विस में देनी है। आलराउन्ड सर्विस करनी है। बाप की सर्विस में हम हड्डी देने भी तैयार हैं। बहुत बच्चियाँ तड़पती रहती हैं – सर्विस के लिए। बाबा हमको छुड़ाओ तो हम सर्विस में लग जाएं, जिससे बहुतों का कल्याण हो। सारी दुनिया तो जिस्मानी सेवा करती है, उससे तो सीढ़ी नीचे ही उतरते आते हो। अभी इस रूहानी सेवा से चढ़ती कला होती है। हर एक समझ सकते हैं – यह फलाने हमसे जास्ती सर्विस करते हैं। सर्विसएबुल अच्छी बच्चियाँ हैं, तो सेन्टर भी सम्भाल सकती हैं। क्लास में नम्बरवार बैठते हैं। यहाँ तो नम्बरवार नहीं बिठाते हैं, फंक हो जायेंगे। समझ तो सकते हैं ना। सर्विस नहीं करते तो जरूर पद भी कम हो जायेगा। पद नम्बरवार बहुत हैं ना। परन्तु वह है सुखधाम, यह है दु:खधाम। वहाँ बीमारी आदि कोई होती नहीं। बुद्धि से काम लेना पड़ता है। समझना चाहिए हम तो बहुत कम पद पा लेंगे क्योंकि सर्विस तो करते नहीं हैं। सर्विस से ही पद मिल सकता है। अपनी जांच करनी चाहिए। हर एक अपनी अवस्था को जानते हैं। मम्मा-बाबा भी सर्विस करते आये हैं। अच्छे-अच्छे बच्चे भी हैं। भल नौकरी में भी हैं, उनको कहा जाता है हाफ पे पर भी छुट्टी लेकर जाए सर्विस करो, हर्जा नहीं है। जो बाबा की दिल पर सो ताउसी तख्त पर बैठते हैं, नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार। ऐसे ही विजय माला में आ जाते हैं। अर्पण भी होते हैं, सर्विस भी करते हैं। कोई तो भल अर्पण होते हैं, सर्विस नहीं करते तो पद कम हो जायेगा ना। यह राजधानी स्थापन होती है श्रीमत से। ऐसा कभी सुना? अथवा पढ़ाई से राजाई स्थापन होती है यह कभी सुना, कभी देखा? हाँ, दान-पुण्य करने से राजा के घर जन्म ले सकते हैं। बाकी पढ़ाई से राजाई पद पाये, ऐसा तो कभी सुना नहीं होगा। किसको पता भी नहीं। बाप समझाते हैं तुमने ही पूरे 84 जन्म लिए हैं। तुमको अब ऊपर जाना है। है बहुत इज़ी। तुम कल्प-कल्प समझते हो नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार। बाप याद-प्यार भी नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार देते हैं, बहुत याद-प्यार उनको देंगे जो सर्विस में हैं। तो अपनी जांच करनी है कि मैं दिल पर चढ़ा हुआ हूँ? माला का दाना बन सकता हूँ? अनपढ़े जरूर पढ़े हुए के आगे भरी ढोयेंगे। बाप तो समझाते हैं बच्चे पुरुषार्थ करें, परन्तु ड्रामा में पार्ट नहीं है तो फिर कितना भी माथा मारो, चढ़ते ही नहीं। कोई न कोई ग्रहचारी लग जाती है। देह-अभिमान से ही फिर और विकार आते हैं। मुख्य कड़ी बीमारी देह-अभिमान की है। सतयुग में देह-अभिमान का नाम ही नहीं होगा। वहाँ तो है ही तुम्हारी प्रालब्ध। यह यहाँ ही बाप समझाते हैं। और कोई ऐसी श्रीमत देते नहीं कि अपने को आत्मा समझ मामेकम् याद करो। यह मुख्य बात है। लिखना चाहिए – निराकार भगवान कहते हैं मुझ एक को याद करो। अपने को आत्मा समझो। अपनी देह को भी याद नहीं करो। जैसे भक्ति में भी एक शिव की ही पूजा करते हो। अब ज्ञान भी सिर्फ मैं ही देता हूँ। बाकी सब है भक्ति, अव्यभिचारी ज्ञान एक ही शिवबाबा से तुमको मिलता है। यह ज्ञान सागर से रत्न निकलते हैं। उस सागर की बात नहीं। यह ज्ञान का सागर तुम बच्चों को ज्ञान रत्न देते हैं, जिससे तुम देवता बनते हो। शास्त्रों में तो क्या-क्या लिख दिया है। सागर से देवता निकला फिर रत्न दिया। यह ज्ञान सागर तुम बच्चों को रत्न देते हैं। तुम ज्ञान रत्न चुगते हो। आगे पत्थर चुगते थे, तो पत्थरबुद्धि बन पड़े। अब रत्न चुगने से तुम पारसबुद्धि बन जाते हो। पारसनाथ बनते हो ना। यह पारसनाथ (लक्ष्मी-नारायण) विश्व के मालिक थे। भक्ति मार्ग में तो अनेक नाम, अनेक चित्र बना रखे हैं। वास्तव में लक्ष्मी-नारायण वा पारसनाथ एक ही है। नेपाल में पशुपति नाथ का मेला लगता है, वह भी पारसनाथ ही है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप ने जो ज्ञान रत्न दिये हैं, वही चुगने हैं। पत्थर नहीं। देह-अभिमान की कड़ी बीमारी से स्वयं को बचाना है।

2) अपनी बैटरी को फुल चार्ज करने के लिए पावर हाउस बाप से योग लगाना है। आत्म-अभिमानी रहने का पुरुषार्थ करना है। निर्भय रहना है।

वरदान:- सर्व सम्बन्ध और सर्व गुणों की अनुभूति में सम्पन्न बनने वाले सम्पूर्ण मूर्त भव
संगमयुग पर विशेष सर्व प्राप्तियों में स्वयं को सम्पन्न बनाना है इसलिए सर्व खजाने, सर्व सम्बन्ध, सर्वगुण और कर्तव्य को सामने रख चेक करो कि सर्व बातों में अनुभवी बने हैं? यदि किसी भी बात के अनुभव की कमी है तो उसमें स्वयं को सम्पन्न बनाओ। एक भी सम्बन्ध वा गुण की कमी है तो सम्पूर्ण स्टेज वा सम्पूर्ण मूर्त नहीं कहला सकते इसलिए बाप के गुणों वा अपने आदि स्वरूप के गुणों का अनुभव करो तब सम्पूर्ण मूर्त बनेंगे।
स्लोगन:- जोश में आना भी मन का रोना है – अब रोने का फाइल खत्म करो।

TODAY MURLI 24 DECEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 24 December 2019

24/12/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, each of you has to look after your own lamp yourself. You definitely need the oil of knowledge and yoga in order to stay safely alight in any storm.
Question: Which effort enables you to receive an incognito inheritance from the incognito Father?
Answer: Being introverted. By remaining in silence and remembering the Father you will receive an incognito inheritance. It is very good if you shed your body in remembrance. There is no difficulty in this. Along with remembrance, you have to serve with knowledge and yoga. If you cannot do this, then do karma yoga. You receive blessings if you make many people happy. Your words and behaviour have to be completely pure.
Song: This is a battle between the strong and the weak. Audio Player

Om shanti. Baba has explained that, whenever you listen to such songs, each of you should churn the ocean of knowledge for yourself. You children know that when someone dies, a lamp is kept alight for twelve days for that soul. You are making preparations to die and you are also making effort to keep your own lamps alight. It is those who are to become threaded in the rosary who make this effort. The subjects do not become part of this rosary. You have to make effort to go ahead in the rosary of victory. You have to take care that Maya, the cat, doesn’t make you perform sinful acts which would extinguish your lamp. You need both the power of knowledge and the power of yoga for this. Together with yoga, you must also have knowledge. Each of you has to look after your own lamp. You must make effort until the end. Whilst you are racing,you have to take great care that your lamp doesn’t flicker and go out. This is why you have to add the oil of knowledge and yoga every day. If you have no energy of the power of yoga, you won’t be able to run and would thus get left behind. There are different subjects in schools, and if someone is not good at a particular subject, he puts in a lot more effort in maths (another subject). The same applies here. The subject of physical service is also very good. You receive blessings from many through this. Some children serve with knowledge. Day by day, service will continue to increase. One owner can have six to eight shops, but not all the shops can run in the same way. Some have fewer customers and others more. The day will come when you too won’t have time to sleep at night. Everyone will come to know that Baba, the Ocean of Knowledge, has come to fill their aprons with the imperishable jewels of knowledge. At that time, so many children will come, don’t even ask! When there is a shop that sells very good things at a cheap price, people tell one another. You children know that these teachings of Raj Yoga are very easy to understand. When everyone comes to know that they can receive the jewels of knowledge here, they will continue to come. Continue to do service with knowledge and yoga. If you can’t serve with knowledge or yoga, you can earn marks by doing physical service. You will receive blessings from many. You have to give happiness to others. This is a very inexpensive mine. This is a mine of imperishable diamonds and jewels. They make a rosary of eight jewels and worship it, but they don’t know whom that rosary represents. You children understand how you become worthy of worship and how you become worshippers. This knowledge, which no one else in the world knows, is so wonderful! You children, you lucky stars, now have the faith that you were the masters of heaven, and that you have now become the masters of hell. When you become the masters of heaven, you will take rebirth there. You are now once again becoming the masters of heaven. Only you Brahmins know about this confluence age. The rest of the world is in the iron age. All the ages are different. When you are in the golden age, you will take rebirth in the golden age. You are now at the confluence age. If any of you leave your bodies, you would take rebirth here according to your sanskars. You Brahmins belong to the confluence age. Those shudras belong to the iron age. You receive this knowledge at this confluence age. You Brahma Kumars and Brahma Kumaris are the Ganges of knowledge who are now at the confluence in a practical way. You have to run a race and look after a shop. You cannot look after a shop if you haven’t imbibed knowledge and yoga. Baba will give you the return of the service you do. When a sacrificial fire is created, many types of brahmin go there. Some are given large donations and others are given less. The Supreme Father, the Supreme Soul, has now created this sacrificial fire of the knowledge of Rudra. We are Brahmins and it is our business to transform human beings into deities. At no other sacrificial fire would it be said that they are becoming deities from human beings. This is called the sacrificial fire of the knowledge of Rudra and it is also called a place of study (pathshala). Every child can attain a deity status by studying this knowledge and yoga. Baba has advised you that you have come here from the supreme abode with Baba. You also say that you are residents of the supreme abode. At this time, you are establishing heaven by following Baba’s directions. Those who establish that world will definitely become the masters of it. You understand that you are the most lucky stars in the world, those who are the sun of knowledge, the moon of knowledge and the stars of knowledge. The Ocean of Knowledge enables us to become this. That sun, moon and stars are physical and we are compared to them. We will then become the sun of knowledge, the moon of knowledge and the stars of knowledge. It is the Ocean of Knowledge who is making us into those. These names would definitely be given to us. We are the children of the Sun of Knowledge who is also called the Ocean of Knowledge. He doesn’t reside here. Baba says: I come and make you equal to Myself. It is here that you have to become the sun of knowledge and the stars of knowledge. You understand that you will again definitely become the masters of heaven here in the future. Everything depends on effort. We are the warriors who gain victory over Maya. Those people endure a lot of hardship etc. in order to control their minds. You don’t have to do hatha yoga etc. Baba says: You don’t have to experience any hardship etc. I simply say: You have to come to Me, and you therefore just have to remember Me. I have come to take you children back home. No human being would say this. Even if some of them do have themselves called Ishwar (God), they wouldn’t call themselves the Guide. Baba says: I am the main Guide. I am the Death of all Deaths. There is a story about Satyavan Savitri. Because she had love for a physical being, she experienced sorrow. You souls become happy knowing that I will take you souls back home and that you will never become unhappy. You understand that Baba has come in order to take you back to your sweet home. That home is called the place of liberation, the place beyond sound. It is said that I am the Death of all Deaths. That (death) only takes one soul, whereas I am the Great Death. It was 5000 years ago, too, when I became the Guide and took everyone back home. This Bridegroom takes all of you brides back home and so you have to remember Him. You understand that you are now studying and that you will come here again. First, you have to go back to your sweet home and then, you come down here again. You children are the stars of heaven. Previously, you were the stars of hell. You children are called stars; you are called lucky stars, numberwise, according to the efforts you make. You receive your Grandfather’s property. This is a very powerful mine. However, this mine only emerges once. There are many other types of mine that continue to emerge. If you were to search for them, you would find many. You only find this mine of the imperishable jewels of knowledge once. There are many books, but they wouldn’t be called jewels. Baba is called the Ocean of Knowledge. This is the incorporeal mine of the imperishable jewels of knowledge. Our aprons are being filled with these jewels. You children should experience happiness. You should all have spiritual pride in this. A shop that does a lot of business becomes well known. You have to create subjects as well as heirs. You have to fill your aprons here with these jewels and then go and donate them to others. The Supreme Father, the Supreme Soul, is the Ocean of Knowledge and He is filling your aprons with jewels of knowledge. It is not the ocean that they have portrayed with deities being offered platefuls of jewels. You cannot receive jewels from that ocean. It is a question of the jewels of knowledge. According to the drama, you will again take jewels from these mines. When you go on to the path of devotion again, there will be limitless diamonds and jewels with which you will build your temples etc. When earthquakes etc. take place, everything is buried. Many palaces etc. will be built there, not just one. Here, too, the rulers have many competitions with one another. Therefore, you children understand that the buildings will be made exactly as they were a cycle ago. Buildings etc. are built there very easily. Science will give a great deal of help, but the word “science” won’t exist there. In Hindi, the word “science” is called “vigyan”. Nowadays, the name Vigyan Bhavan is used. The word “vigyan” applies to knowledge. Gyan and yoga together are called vigyan. We receive jewels through knowledge and we become ever healthy through yoga. This is the knowledge of gyan and yoga with which many huge buildings will later be built in Paradise. We have now come to know the whole knowledge. You understand that you are making Bharat into heaven. You must no longer have any attachment to your bodies. You souls will have to shed your bodies and go to heaven where you will take new bodies. When you are there, you will also understand when you are to shed your old bodies and take new ones. There, there is no shock or sorrow. It is good to take a new body. Baba is making us the same as He did in the previous cycle. We are becoming deities from human beings. There were definitely the same innumerable religions a cycle ago as there are now. These things are not written in that Gita. It is said: Through Brahma, there is the establishment of the original eternal deity religion. You can explain how the destruction of all the innumerable religions takes place. Establishment is now taking place. Baba came when the deity religion had completely disappeared. Therefore, how could that have continued from time immemorial? These are very easy things. What was destroyed? All the innumerable religions. There are now innumerable religions. It is now the end; you should have all of this knowledge in your intellects. It is not that only Shiv Baba explains; does this Baba not explain anything? He too has his part to play. The shrimat of Brahma too has been remembered. You wouldn’t say that Krishna gave shrimat. Everyone there is “shri” (elevated), and so they have no need for directions. It is here that you receive Brahma’s directions. There, the directions of all – the king, the queen and the subjects – will be elevated. Surely, someone must have given those to them previously. Deities are the ones who had been given elevated instructions. It is through shrimat that heaven is created and it is through the devil’s directions that hell is created. Shiva gives you shrimat. These things are very easy to understand. All of these shops belong to Shiv Baba, and you are the children who run them. Those who run a shop well have their names glorified, just as in other businesses. However, only very few can do this business. All of you should be doing this business. Even little children can do the business of knowledge and yoga. Just keep the land of peace and the land of happiness in your intellects. Those people say: Rama! Rama! Here, you have to remain silent and have remembrance; there’s no need to say anything. The land of Vishnu and the land of Shiva are very easy things to understand. Remember your sweet home and your sweet kingdom. They give physical mantras whereas this is a subtle mantra. This remembrance is extremely subtle. By having this remembrance, we become the masters of heaven. You don’t have to chant any mantras, but simply have remembrance. You don’t have to make any noise. We attain our incognito inheritance from the incognito Father by becoming introverted and remaining silent. It is very good to shed the body whilst staying in this remembrance. There is no difficulty in this at all. Those who cannot stay in remembrance should practise this. Tell everyone that Baba says: Remember Me and your final thought will lead you to your destination. It is by having this remembrance that your sins are absolved and I send you to heaven. It is very easy to connect your intellects in yoga with Shiv Baba. Here, you have to take all precautions. If you want to become completely pure (satopradhan), your behaviour should be pure, and your words and everything else should be pure. This means you have to talk to yourself. When you speak to your companions you must do so with love. There is a song: “O beloved, always speak invaluable words!” You are Rup Basant (yogi showering jewels of knowledge). You souls become rup. The Father is the Ocean of Knowledge. Therefore, He would surely come and speak that knowledge. He says: I only come once and adopt a body. This magic is no less. Baba is also Rup Basant. However, the Incorporeal cannot speak, which is why He takes a body, but He does not enter into the cycle of birth and death. You souls take birth and rebirth. You children surrender yourselves to the Father. Therefore, Baba says: You should have no attachment to anything. Do not consider anything to be yours. Baba creates clever ways for you to finish attachment. You have to ask the Father at every step. Maya is such that she punches you. It is completely like boxing. Many get hurt but then get up again. They even write: Baba, Maya slapped me and dirtied my face. It is as though they fall from the fourth floor. If you have anger, that is like falling from the third floor. These things have to be understood. Just look, some children are asking for tapes. They ask Baba to send them tapes, so that they can hear the murli accurately. This facility too is being arranged. When many listen to them, many of them will have their intellects opened and many will benefit. When a person opens a college, he receives a lot of wisdom in his next birth. Baba says: Buy a tape recorder and many others will benefit from that. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to become satopradhan, you have to take a lot of precautions. Keep your food, drink, words, behaviour and everything else very pure. Become rup basant like the Father.
  2. Fill your apron with imperishable jewels of knowledge from the incorporeal Mine and stay in limitless happiness as you continue to donate these jewels to others.
Blessing: May you be a constant yogi whose mind and intellect work systematically according to your orders.
The special means for becoming a constant yogi, that is, a master of the self, are your mind and intellect. The mantra itself is “Manmanabhav” (focus your mind on Me). Yoga is said to be yoga of the intellect. So, if those special means are under your control, that is, if they work systematically according to your orders, if you are able to have whatever thought you want if you are able to focus your intellect on whatever you want, and your intellect does not make you, the king, wander but works with discipline, you would then be said to be a constant yogi.
Slogan: Be a master world teacher. Do not make time your teacher.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 24 DECEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 24 December 2019

24-12-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हें अपने दीपक की सम्भाल स्वयं ही करनी है, तूफानों से बचने के लिए ज्ञान-योग का घृत जरूर चाहिए”
प्रश्नः- कौन-सा पुरुषार्थ गुप्त बाप से गुप्त वर्सा दिला देता है?
उत्तर:- अन्तर्मुख अर्थात् चुप रहकर बाप को याद करो तो गुप्त वर्सा मिल जायेगा। याद में रहते शरीर छूटे तो बहुत अच्छा, इसमें कोई तकलीफ नहीं। याद के साथ-साथ ज्ञान-योग की सर्विस भी करनी है, अगर नहीं कर सकते तो कर्मणा सेवा करो। बहुतों को सुख देंगे तो आशीर्वाद मिलेगी। चलन और बोलचाल भी बहुत सात्विक चाहिए।
गीत:- निर्बल से लड़ाई बलवान की…….. 

ओम् शान्ति। बाबा ने समझा दिया है जब ऐसे गीत सुनते हो तो हर एक को अपने ऊपर ही विचार सागर मंथन करना होता है। यह तो बच्चे जानते हैं-मनुष्य मरते हैं तो 12 रोज़ दीवा जगाते हैं। तुम फिर मरने के लिए तैयारी कर रहे हो और अपनी ज्योत पुरुषार्थ कर आपेही जगा रहे हो। पुरुषार्थ भी माला में आने वाले ही करते हैं। प्रजा इस माला में नहीं आती। पुरुषार्थ करना चाहिए हम विजय माला में पहले जायें। कहाँ माया बिल्ली तूफान लगाकर विकर्म न बना दे जो दीवा बुझ जाए। अब इसमें ज्ञान और योग दोनों बल चाहिए। योग के साथ ज्ञान भी जरूरी है। हर एक को अपने दीपक की सम्भाल करनी है। अन्त तक पुरुषार्थ चलना ही है। रेस चलती रहती है तो बहुत सम्भाल करनी है-कहाँ ज्योत कम न हो जाए, बुझ न जाए इसलिए योग और ज्ञान का घृत रोज़ डालना पड़ता है। योगबल की ताकत नहीं है तो दौड़ नहीं सकते हैं। पिछाड़ी में रह जाते हैं। स्कूल में सब्जेक्ट होती हैं, देखते हैं – हम इस सब्जेक्ट में तीखे नहीं हैं तो हिसाब में जोर लगाते हैं। यहाँ भी ऐसे हैं। स्थूल सर्विस की सब्जेक्ट भी बहुत अच्छी है। बहुतों की आशीर्वाद मिलती है। कोई बच्चे ज्ञान की सर्विस करते हैं। दिन-प्रतिदिन सर्विस की वृद्धि होती जायेगी। एक धनी के 6-8 दुकान भी होते हैं। सभी एक जैसे नहीं चलते। कोई में कम ग्राहकी, कोई में जास्ती होती है। तुम्हारा भी एक दिन वह समय आने वाला है जो रात को भी फुर्सत नहीं मिलेगी। सबको पता चलेगा कि ज्ञान सागर बाबा आया हुआ है – अविनाशी ज्ञान रत्नों से झोली भरते हैं। फिर बहुत बच्चे आयेंगे। बात मत पूछो। एक-दो को सुनाते हैं ना। यहाँ यह वस्तु बहुत अच्छी सस्ती मिलती है। तुम बच्चे भी जानते हो यह राजयोग की शिक्षा बहुत सहज है। सबको इस ज्ञान रत्नों का मालूम पड़ जायेगा तो आते रहेंगे। तुम यह ज्ञान और योग की सर्विस करते हो। जो यह ज्ञान योग की सर्विस नहीं कर सकते तो फिर कर्मणा सर्विस की भी मार्क्स हैं। सभी की आशीर्वाद मिलेंगी। एक-दो को सुख देना होता है। यह तो बहुत-बहुत सस्ती खान है। यह अविनाशी हीरे-जवाहरों की खान है। 8 रत्नों की माला बनाते हैं ना। पूजते भी हैं परन्तु किसको पता नहीं है, यह माला किसकी बनी हुई है।

तुम बच्चे जानते हो कैसे हम ही पूज्य सो पुजारी बनते हैं। यह बड़ी वन्डरफुल नॉलेज है जो दुनिया में कोई नहीं जानते। अभी तुम लक्की स्टार्स बच्चों को ही निश्चय है कि हम स्वर्ग के मालिक थे, अभी नर्क के मालिक बन पड़े हैं, स्वर्ग के मालिक होंगे तो पुनर्जन्म भी वहाँ ही लेंगे। अभी फिर हम स्वर्ग के मालिक बन रहे हैं। तुम ब्राह्मणों को ही इस संगमयुग का पता है। दूसरी ओर सारी दुनिया है कलियुग में। युग तो अलग-अलग हैं ना। सतयुग में होंगे तो पुनर्जन्म सतयुग में लेंगे। अभी तुम संगमयुग पर हो। तुम्हारे से कोई शरीर छोड़ेंगे तो संस्कारों अनुसार फिर यहाँ ही आकर जन्म लेंगे। तुम ब्राह्मण हो संगमयुग के। वह शूद्र हैं कलियुग के। यह नॉलेज भी तुमको इस संगम पर मिलती है। तुम बी.के. ज्ञान गंगायें प्रैक्टिकल में अब संगमयुग पर हो। अभी तुमको रेस करनी है। दुकान सम्भालनी है। ज्ञान-योग की धारणा नहीं होगी तो दुकान सम्भाल नहीं सकेंगे। सर्विस का उजूरा तो बाबा देने वाला है। यज्ञ रचा जाता है तो किस्म-किस्म के ब्राह्मण लोग आ जाते हैं। फिर किसको दक्षिणा जास्ती, किसको कम मिलती है। अब यह परमपिता परमात्मा ने रूद्र ज्ञान यज्ञ रचा है। हम हैं ब्राह्मण। हमारा धन्धा ही है मनुष्य को देवता बनाना। ऐसा यज्ञ और कोई होता नहीं, जो कोई कहे कि हम इस यज्ञ से मनुष्य से देवता बन रहे हैं। अब इसको रूद्र ज्ञान यज्ञ अथवा पाठशाला भी कहा जाता है। ज्ञान और योग से हर एक बच्चा देवी-देवता पद पा सकता है। बाबा राय भी देते हैं तुम परमधाम से बाबा के साथ आये हो। तुम कहेंगे हम परमधाम निवासी हैं। इस समय बाबा की मत से हम स्वर्ग की स्थापना कर रहे हैं। जो स्थापना करेंगे वही जरूर मालिक बनेंगे। तुम जानते हो इस दुनिया में हम मोस्ट लकीएस्ट, ज्ञान सूर्य, ज्ञान चन्द्रमा और ज्ञान सितारे हैं। बनाने वाला है ज्ञान सागर। वह सूर्य, चांद, सितारे तो स्थूल में हैं ना। उनके साथ हमारी भेंट हैं। तो हम भी फिर ज्ञान सूर्य, ज्ञान चन्द्रमा, ज्ञान सितारे होंगे। हमको ऐसा बनाने वाला है ज्ञान का सागर। नाम तो पड़ेगा ना। ज्ञान सूर्य अथवा ज्ञान सागर के हम बच्चे हैं। वह तो यहाँ के रहवासी नहीं हैं। बाबा कहते हैं मैं आता हूँ तुमको आपसमान बनाता हूँ। ज्ञान सूर्य, ज्ञान सितारे तुमको यहाँ बनना है। तुम जानते हो बरोबर हम भविष्य में फिर यहाँ ही स्वर्ग के मालिक बनेंगे। सारा मदार पुरुषार्थ पर है। हम माया पर जीत पाने के वारियर्स हैं। वो लोग फिर मन को वश करने के लिए कितने हठ आदि करते हैं। तुम तो हठयोग आदि कर न सको। बाबा कहते हैं तुमको कोई तकलीफ आदि नहीं करनी है, सिर्फ कहता हूँ तुमको मेरे पास आना है इसलिए मुझे याद करो। मैं तुम बच्चों को लेने आया हूँ। ऐसे और कोई मनुष्य कह न सके। भल अपने को ईश्वर कहे परन्तु अपने को गाइड कह न सके। बाबा कहते हैं मैं मुख्य पण्डा कालों का काल हूँ। एक सत्यवान सावित्री की कहानी है ना! उनका जिस्मानी लव होने के कारण दु:खी होती थी। तुम तो खुश होते हो। मैं तुम्हारी आत्मा को ले जाऊंगा, तुम कभी दु:खी नहीं होंगे। जानते हो हमारा बाबा आया है स्वीट होम में ले जाने लिए। जिसको मुक्तिधाम, निर्वाणधाम कहा जाता है। कहते हैं मैं सभी कालों का काल हूँ। वह तो एक आत्मा को ले जाते हैं, मैं तो कितना बड़ा काल हूँ। 5 हजार वर्ष पहले भी मैं गाइड बन सभी को ले गया था। साजन सजनियों को वापिस ले जाते हैं तो उनको याद करना पड़े।

तुम जानते हो अभी हम पढ़ रहे हैं फिर यहाँ आयेंगे। पहले स्वीट होम जायेंगे फिर नीचे आयेंगे। तुम बच्चे स्वर्ग के सितारे ठहरे। आगे नर्क के थे। सितारे बच्चों को कहा जाता है। लक्की सितारे नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार हैं। तुमको दादे की मिलकियत मिलती है। खान बड़ी जबरदस्त है और यह खान एक ही बार निकलती है। वह खानियां तो बहुत हैं ना। निकलती रहती हैं। कोई बैठ ढूँढे तो बहुत हैं। यह तो एक ही बार एक ही खान मिलती है-अविनाशी ज्ञान रत्नों की। वह किताब तो बहुत हैं। परन्तु उनको रत्न नहीं कहेंगे। बाबा को ज्ञान सागर कहा जाता है। अविनाशी ज्ञान रत्नों की निराकारी खान है। इन रत्नों से हम झोलियाँ भरते रहते हैं। तुम बच्चों को खुशी होनी चाहिए। हर एक को फ़खुर भी होता है। दुकान पर धन्धा जास्ती होता है तो नामाचार भी होता है। यहाँ प्रजा भी बना रहे हैं तो वारिस भी बना रहे हैं। यहाँ से रत्नों की झोली भरकर फिर जाए दान देना है। परमपिता परमात्मा ही ज्ञान सागर है जो ज्ञान रत्नों से झोली भरते हैं। बाकी वह समुद्र नहीं जो दिखाते हैं रत्नों की थाली भरकर देवताओं को देते हैं। उस सागर से रत्न नहीं मिलते। यह ज्ञान रत्नों की बात है। ड्रामा अनुसार फिर तुमको रत्नों की खानियाँ भी मिलती हैं। वहाँ ढेर हीरे-जवाहर होंगे, जिससे फिर भक्ति मार्ग में मन्दिर आदि बनायेंगे। अर्थक्वेक आदि होने से सब अन्दर चले जाते हैं। वहाँ महल आदि तो बहुत बनते हैं, एक नहीं। यहाँ भी राजाओं की कॉम्पीटीशन होती है बहुत। तुम बच्चे जानते हो – हूबहू कल्प पहले जैसा मकान बनाया था वैसा फिर बनायेंगे। वहाँ तो बहुत सहज मकान आदि बनते होंगे। साइंस बहुत काम देती है। परन्तु वहाँ साइंस अक्षर नहीं होगा। साइंस को हिन्दी में विज्ञान कहते हैं। आजकल तो विज्ञान भवन भी नाम रख दिया है। विज्ञान अक्षर ज्ञान के साथ भी लगता है। ज्ञान और योग को विज्ञान कहेंगे। ज्ञान से रत्न मिलते हैं, योग से हम एवरहेल्दी बनते हैं। यह ज्ञान और योग की नॉलेज हैं जिससे फिर वैकुण्ठ के बड़े-बड़े भवन बनेंगे। हम अभी इस सारी नॉलेज को जानते हैं। तुम जानते हो हम भारत को स्वर्ग बना रहे हैं। तुम्हारा इस देह से कोई ममत्व नहीं है। हम आत्मा इस शरीर को छोड़ स्वर्ग में जाकर नया शरीर लेंगे। वहाँ भी समझते हैं एक पुराना शरीर छोड़ जाए नया लेंगे। वहाँ कोई दु:ख वा शोक नहीं होता। नया शरीर लें तो अच्छा ही है। हमको बाबा ऐसा बना रहे हैं, जैसे कल्प पहले भी बने थे। हम मनुष्य से देवता बन रहे हैं। बरोबर कल्प पहले भी अनेक धर्म थे। गीता में कोई यह नहीं है। गाया जाता है आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना ब्रह्मा द्वारा। अनेक धर्मों का विनाश कैसे होता है, सो तुम समझा सकते हो। अब स्थापना हो रही है। बाबा आये ही तब थे जब देवी-देवता धर्म लोप हो गया था। फिर परम्परा कैसे चला होगा। यह बहुत सहज बातें हैं। विनाश किसका हुआ? अनेक धर्मों का। तो अभी अनेक धर्म हैं ना। इस समय अन्त है, सारा ज्ञान बुद्धि में रहना चाहिए। ऐसे तो नहीं, शिवबाबा ही समझाते हैं। क्या यह बाबा कुछ नहीं बतलाते। इनका भी पार्ट है, श्रीमत ब्रह्मा की भी गाई हुई है। कृष्ण के लिए तो श्रीमत कहते नहीं। वहाँ तो सब श्री हैं, उन्हों को मत की दरकार ही नहीं। यहाँ ब्रह्मा की भी मत मिलती है। वहाँ तो यथा राजा-रानी तथा प्रजा-सभी की श्रेष्ठ मत है। जरूर किसने दी होगी। देवतायें हैं श्रीमत वाले। श्रीमत से ही स्वर्ग बनता है, आसुरी मत से नर्क बना है। श्रीमत है शिव की। यह सब बातें सहज समझने की हैं। शिवबाबा की यह सब दुकान हैं। हम बच्चे चलाने वाले हैं। जो अच्छा दुकान चलाते हैं, उनका नाम होता है। हूबहू जैसे दुकानदारी में होता है। परन्तु यह व्यापार कोई विरला करे। व्यापार तो सभी को करना है। छोटे बच्चे भी ज्ञान और योग का व्यापार कर सकते हैं। शान्तिधाम और सुखधाम-बस, बुद्धि में उनको याद करना है। वो लोग राम-राम कहते हैं। यहाँ चुप होकर याद करना है, बोलना कुछ नहीं है। शिवपुरी, विष्णुपुरी बहुत सहज बात है। स्वीट होम, स्वीट राजधानी याद है। वह देते हैं स्थूल मंत्र, यह है सूक्ष्म मंत्र। अति सूक्ष्म याद है। सिर्फ इस याद करने से हम स्वर्ग के मालिक बन जाते हैं। जपना कुछ भी नहीं है सिर्फ याद करना है। आवाज़ कुछ नहीं करना पड़ता। गुप्त बाबा से गुप्त वर्सा चुप रहने से, अन्तर्मुख होने से हम पाते हैं। इसी ही याद में रहते शरीर छूट जाए तो बहुत अच्छा है। कोई तकल़ीफ नहीं, जिनको याद नहीं ठहरती वह अपना अभ्यास करें। सभी को कहो बाबा ने कहा है मुझे याद करो तो अन्त मती सो गति। याद से विकर्म विनाश होंगे और मैं स्वर्ग में भेज दूँगा। बुद्धियोग शिवबाबा से लगाना बहुत सहज है। परहेज भी सारी यहाँ ही करनी है। सतोप्रधान बनते हैं तो सभी सात्विक होने चाहिए-चलन सात्विक, बोलना सात्विक। यह है अपने साथ बातें करना। साथी से प्यार से बोलना है। गीत में भी है ना-पियु-पियु बोल सदा अनमोल…।

तुम हो रूप-बसन्त। आत्मा रूप बनती है। ज्ञान का सागर बाप है तो जरूर आकर ज्ञान ही सुनायेंगे। कहते हैं मैं एक ही बार आकर शरीर धारण करता हूँ। यह कम जादूगरी नहीं है! बाबा भी रूप-बसन्त है। परन्तु निराकार तो बोल नहीं सकता इसलिए शरीर लिया है। परन्तु वह पुनर्जन्म में नहीं आता है। आत्मायें तो पुनर्जन्म में आती हैं।

तुम बच्चे बाबा के ऊपर बलिहार जाते हो तो बाबा कहते हैं फिर ममत्व नहीं रखना। अपना कुछ नहीं समझना। ममत्व मिटाने के लिए ही बाबा युक्ति रचते हैं। कदम-कदम पर बाप से पूछना पड़ता है। माया ऐसी है जो चमाट मारती है। पूरी बॉक्सिंग है, बहुत तो चोट खाकर फिर खड़े हो जाते हैं। लिखते भी हैं-बाबा, माया ने थप्पड़ लगा दिया, काला मुँह कर दिया। जैसे कि 4 मंज़िल से गिरा। क्रोध किया तो थर्ड फ्लोर से गिरा। यह बहुत समझने की बातें हैं। अब देखो, बच्चे टेप के लिए भी मांग करते रहते हैं। बाबा टेप भेज दो। हम एक्यूरेट मुरली सुनें। यह भी प्रबन्ध हो रहा है। बहुत सुनेंगे तो बहुतों के कपाट खुलेंगे। बहुतों का कल्याण होगा। मनुष्य कॉलेज खोलते हैं तो उनको दूसरे जन्म में विद्या जास्ती मिलती है। बाबा भी कहते हैं-टेप मशीन खरीद करो तो बहुतों का कल्याण हो जायेगा। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सतोप्रधान बनने के लिए बहुत-बहुत परहेज से चलना है। अपना खान-पान, बोल-चाल सब सात्विक रखना है। बाप समान रूप-बसन्त बनना है।

2) अविनाशी ज्ञान रत्नों की निराकारी खान से अपनी झोली भरकर अपार खुशी में रहना है और दूसरों को भी इन रत्नों का दान देना है।

वरदान:- मन-बुद्धि को आर्डर प्रमाण विधिपूर्वक कार्य में लगाने वाले निरन्तर योगी भव
निरन्तर योगी अर्थात् स्वराज्य अधिकारी बनने का विशेष साधन मन और बुद्धि है। मंत्र ही मन्मनाभव का है। योग को बुद्धियोग कहते हैं। तो अगर यह विशेष आधार स्तम्भ अपने अधिकार में हैं अर्थात् आर्डर प्रमाण विधि-पूर्वक कार्य करते हैं। जो संकल्प जब करना चाहो वैसा संकल्प कर सको, जहाँ बुद्धि को लगाना चाहो वहाँ लगा सको, बुद्धि आप राजा को भटकाये नहीं। विधिपूर्वक कार्य करे तब कहेंगे निरन्तर योगी।
स्लोगन:- मास्टर विश्व शिक्षक बनो, समय को शिक्षक नहीं बनाओ।

TODAY MURLI 24 DECEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 24 December 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 23 December 2018 :- Click Here

24/12/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have received the easy mantra from the Satguru to discipline the mind: Remain in silence and constantly remember Me alone. This is the great mantra that will control Maya.
Question: How is Shiv Baba the most innocent Customer?
Answer: Baba says: Children, I take all the old rubbish you have, including your bodies, and I take that when you are about to die. Your white dress is also a sign of death. You now sacrifice yourselves to the Father. The Father then makes you prosperous for 21 births. The Father fulfils everyone’s desires on the path of devotion. Then, on the path of knowledge, He gives you the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world and also makes you trikaldarshi.
Song: No one is unique like the Innocent Lord. 

Om shanti. You children are sitting in front of the Innocent Lord. Businessmen say: Send me a simpleton, an innocent customer, who will buy goods worth one or two thousand and give us a lot of money. O God, send me such a customer! The Father, the Innocent Lord, explains to you children the beginning, the middle and the end of the world and makes you trikaldarshi. Could you ever find such a customer as Me? You surrender yourself to Him. You sing a lot of praise on the path of devotion. The praise of the Innocent Lord is: You are the Mother and Father. He comes and teaches you Raja Yoga and gives you the kingdom. You say to the Father: We sacrifice all this old rubbish to You. You make us prosperous for 21 births. Stockbrokers make deals and take a commission. That One also says: Whatever rubbish you have, I take all of that, including your body, when you are about to die. Here, the costume of you Brahma Kumaris is white. It is as though you are dead. A corpse is always covered with a white sheet which is completely without a stain. At this time, everyone has the black mark of Maya on them. These are called the bad omens of Rahu. The moon too becomes dark when it is eclipsed. So, this eclipse of the omens of Maya also makes the whole world dark. All the elements are also included in that. The Father sits here and explains: This is your Raja Yoga. Through Raja Yoga, you have to claim your kingdom in heaven. You become kings of kings and you have the intoxication of becoming Narayan. You change from ordinary man into Narayan. The kingdom of Lakshmi and Narayan is in the golden age. So, I definitely have to come at the end. At this time, it is the path of devotion. On the path of devotion, people bow their heads and continue to stumble around from door to door. God is the Protector of the devotees. He comes and gives the fruit of devotion. All are devotees, but not all of them receive the same fruit. Some receive visions, some have a son; all of that is temporary. I fulfil all their various desires. No one in the world knows that God has come to teach Raja Yoga. They think that He came in the copper age and taught Raja Yoga at that time. How could you have become Narayan from an ordinary man there? It is now that the Father teaches you Raja Yoga and makes you into kings of kings. Here, you just have to remain in silence. Manmanabhav: this is the easy mantra given by the Satguru that disciplines the mind. There is a lot of income through this mantra. This is the mantra with which you control Maya. You become conquerors of Maya and conquerors of the world. Those on the path of devotion say, “When you conquer your mind, you conquer the world”. This is why they do hatha yoga etc. However, they don’t do that to become conquerors of the world; they do it for liberation. The Father comes and says: Children, renounce your body and all bodily religions. Renounce everything such as: I belong to such-and-such a religion, I am so-and-so. Consider yourself to be a soul and constantly remember Me alone. That’s all! Simply follow the directions that I am giving you. You now have to renounce all the different dictates you have been following up to now. So, your knowledge is completely new. People think that what you tell them is new. Before you children explain to anyone, you should first of all feel their pulse. You mustn’t say the same things to everyone. People have so many different directions. Yours is one direction, but it is numberwise. Those who stay in yoga well and who have dharna will definitely explain well. Those who have less dharna will explain less. Tell only one simple thing to whoever comes to you. Although you may be living at home with your family, you have to remain like a lotus. You know that each lotus has many progeny and so an example is given of that. The Father too has many children. The lotus flower remains above the water and all the rest of its progeny is below the water. This is a good example. Baba says: Live at home with your family, but remain pure. This is a matter of purity. In this, remain pure in this final birth and also constantly remember Me alone. You definitely also have to sustain your creation. Otherwise, this would become like hatha yoga. Many people in the world remain pure. Someone who is celibate from birth is like Bhishampitamai. A good example of celibacy is when a husband and wife live together and remain pure. Pure marriage is even mentioned in the scriptures, but no one knows about it. The Father explains this. Baba says: Children, now, instead of sitting on the pyre of lust, both of you tie the bond of sitting on the pyre of knowledge. You Brahmins are doing such good work. You have to promise to remain pure. By cautioning one another, both of you will go to heaven. Here, you demonstrate how you remain pure while living together and this is how you can claim a very high status. Your example would be given. You sit on the pyre of knowledge and claim a high status in heaven. A lot of courage is required for this. If you continue to move along very firmly, your status will be very high. Then, it also depends on service. Those who do a lot of service and create subjects will claim a good status. You should even go higher than Baba and Mama. However, just as Baba says that if both Christians (Russia and America) were to unite, they could become the masters of the world, in the same way, such a couple should emerge who go higher than the mother and father. However, there isn’t anyone like that. Only Jagadamba and Jagadpita are well known. No one would be able to do service like they do. They have become the instruments. This is why you should never have heart failure in this. OK, if not like Mama and Baba, you can become the second number. Everything depends on the service to create subjects and heirs. So, everything of ours is new. The Father definitely has to come here to create the new world. He alone is the Creator. Those people say that God is beyond name and form, but He is not like that. They cannot be blamed. Only if it is in their fortune would they understand. Many come who think that this is right. Some say that a soul doesn’t have a name or form. So, what is it that is called a soul? There is the name ‘soul’. Tell everyone that this is Raja Yoga. The Supreme Father, the Supreme Soul, comes at the confluence age. It would definitely be at the confluence age that He teaches Raja Yoga because only then can He make impure ones pure. So, the things here are unique. The Father says: Simply consider yourselves to be souls. You have to go to the Father. There is no need to ask any questions about this. They say: Do not hurt my soul. This one is a sinful soul. This one is a pure soul. No one can say that a soul has no form. When Vivekananda was sitting in front of Ramakrishna, he had a vision. He saw a light entering him. They say something like that. Tell them: Ours is Raja Yoga. Here, you have to forget your body and all bodily friends and relations etc. We souls are His children and we ourselves are a brotherhood. If everyone were to become the Father, the Father would be praying to the Father. We are now studying Raja Yoga. This is the yoga to become the kings of kings. There is no kingdom now. So you have to explain: We stay in silence and simply remember Shiv Baba. We consider ourselves to be separate from our bodies. Souls say: I shed a body and take another. So, the sanskars of knowledgeremain in the soul. Good and bad sanskars are in the soul. The soul is not immune to the effect of action; this has to be explained. Souls take rebirth. A soul has to take organs repeatedly. A soul is a star; it resides in the centre of the forehead. When they have a vision of a soul, they believe that you have such power in you that you enabled them to have a vision of a soul. However, the soul resides in the centre of the forehead. What does it matter whether you have a vision or not? The soul himself says: I am a star. I have a part of 84 births in me. If souls were to take 8.4 million births, they would have so many sanskars, you don’t know what would happen! You can believe that a soul takes 84 births. You cannot believe that anyone could take 8.4 million births. We are now becoming pure. Baba has made us pure in order to change us from ordinary humans into Narayan. You should have this great intoxication. You don’t need to debatewith anyone. Renounce your body and all religions of the body and consider yourself to be a bodiless soul. Although we have studied the scriptures etc., why should we discuss them, since the Father has said: Constantly remember Me alone. His second order is: While living at home with your family, remain as pure as a lotus. Only through the fire of yoga will your sins be burnt away. God speaks: God is the Supreme Soul. He too is called a s tar. There are many points, but they can’t all be brought up at the same time. You have to see the personality of the person in front of you and take up everything tactfully. Tell him: We also study the scriptures, but the Father’s order is to forget them all and constantly remember Him alone. He is incorporeal. Everyone believes in the soul. Even those who believe in Vivekananda will believe in the soul. Everyone has a soul. Therefore, souls would surely have the Father who is called the Supreme Father, the Supreme Soul. All of these are points. By churning these, you will constantly find new points. The steamer will continue to be filled. This is like the goods of the imperishable jewels of knowledge. Note down the points and then revise them. These are jewels. You should have a keen interest in imbibing them and writing about them. Explain to everyone very clearly: There is a soul in everyone, but it doesn’t have a physical name or physical form. You cannot say that since a soul has a form, why doesn’t God have a form? He is called the Supreme Father, the Supreme Soul, the One who resides in the supreme abode. So much is explained to you children. So, now demonstrate this by doing service. Baba gives a prize according to the service you do. He enables you to be decorated with so many jewels of knowledge. We don’t want to become multimillionaires here. We want the sovereignty of the world. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Churn the ocean of knowledge and imbibe the jewels of knowledge that you receive. Always remain full of the jewels of knowledge.
  2. Stay in the intoxication of becoming Narayan. Don’t speak of useless matters to anyone. Practise becoming bodiless.
Blessing: May you be a conqueror of Maya and remain constant and stable by considering Maya to be co-operative in teaching you a lesson rather than your enemy.
Maya comes to teach you a lesson and so do not be afraid but learn a lesson. Maya comes sometimes to make the lesson of tolerance firm and sometimes the lesson of being an embodiment of peace firm. Therefore, instead of considering Maya to be an enemy, think of her as being co-operative and you will not become nervous or be defeated. You will learn the lesson and become as unshakeable as Angad. Never become weak and invoke Maya and she will bid you farewell.
Slogan: Let there be the greatness of determination in every thought and you will continue to receive success.

*** Om Shanti ***

Sweet Elevated Versions of Mateshwari

Only God knows His ways and means of granting salvation.

Only You know your ways and means: in whose memory is this praise sung? Because the way God grants salvation is only known by God. Human beings cannot know this. People only have the desire for happiness, but how can they receive that happiness? Until people burn their five vices and make their actions neutral, they cannot receive that happiness. The philosophy of action, neutral action and sinful action is very deep. No human being, only God, can know the consequences of these. Until God tells us of these consequences, human beings cannot receive liberation in life. This is why people say, “Only You know Your ways and means”. God has the ways and means for granting salvation to this one. It is the duty of God to give the teachings of how to make actions neutral. Human beings do not have this knowledge and, because of this, they continue to perform wrong actions. The first duty of human beings is to reform their actions for only then will they be able to take the full benefit of human life. Achcha.

BRAHMA KUMARIS MURLI 24 DECEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 24 December 2018

To Read Murli 23 December 2018 :- Click Here
24-12-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – सतगुरू का सहज वशीकरण मंत्र तुम्हें मिला हुआ है कि चुप रहकर मामेकम् याद करो, यही माया को अधीन करने का महामंत्र है”
प्रश्नः- शिवबाबा ही सबसे भोला ग्राहक है-कैसे?
उत्तर:- बाबा कहते-बच्चे, तुम्हारे पास देह सहित जो भी पुराना कचरा है वह मैं लेता हूँ, सो भी तब जब तुम मरने पर हो। तुम्हारे सफेद कपड़े भी मरने की ही निशानी हैं। तुम अभी बाप पर बलि चढ़ते हो। बाप फिर 21 जन्मों के लिए तुम्हें मालामाल कर देते हैं। भक्ति मार्ग में भी बाप सबकी मनोकामनायें पूर्ण करते हैं, ज्ञान मार्ग में भी सृष्टि के आदि, मध्य, अन्त का ज्ञान दे त्रिकालदर्शी बनाते हैं।
गीत:- भोलेनाथ से निराला………. 

ओम् शान्ति। बच्चे भोलानाथ के सम्मुख बैठे हुए हैं। व्यापारी लोग कहते हैं-ऐसा कोई मत का मूरा (कम बुद्धि वाला भोला) हो जो हजार, दो हजार का माल लेकर, हमको खूब धन देकर जाये। हे भगवान्, हमको ऐसा ग्राहक मिलाओ। अब भोलानाथ बाप आकर बच्चों को आदि, मध्य, अन्त का राज़ समझाए त्रिकालदर्शी बना रहे हैं। मेरे जैसा ग्राहक तुमको कभी मिल सकता है? तुम उनको अर्पण करते हो। भक्ति मार्ग में बहुत महिमा करते हो। भोलानाथ की महिमा होती है – तुम मात-पिता……। वह आकर राजयोग सिखलाते हैं, राजाई देते हैं। बाप को कहते हैं यह जो पुराना कचरा है वह हम आपके ऊपर बलि चढ़ाते हैं। आप हमको 21 जन्मों के लिए मालामाल करते हो। सर्राफ होते हैं ना, मट्टा-सट्टा करते हैं, कमीशन लेते हैं। यह भी कहते हैं कचरा जो भी है देह सहित, वह सब तुम्हारा लेता हूँ जब तुम मरने पर हो। यहाँ तुम ब्रह्माकुमारियों के कपड़े भी सफेद हैं। जैसे कि तुम मरे पड़े हो। मरने वाले पर हमेशा सफेद चादर डालते हैं। कोई भी दाग़ न हो। इस समय सबको माया का काला दाग़ लग गया है, इसको ही राहू का ग्रहण कहा जाता है। चन्द्रमा पर भी ग्रहण लगने से काला हो जाता है ना। तो यह माया का ग्रहण भी सारे विश्व को काला कर देता है। इसमें तत्व आदि सब आ जाते हैं।

बाप बैठ समझाते हैं यह तुम्हारा राजयोग है। राजयोग से स्वर्ग में राजाई प्राप्त करनी है। तुम राजाओं का राजा बनते हो, नारायणी नशा रहता है। नर से नारायण बनते हैं। लक्ष्मी-नारायण का राज्य होता ही है सतयुग में। तो जरूर मुझे अन्त में आना पड़े। यह समय है भक्ति मार्ग का, भक्ति मार्ग में दर-दर माथा टेकते, धक्का खाते रहते हैं। भक्तों का रखवाला है भगवान्, भक्ति का फल आकर देते हैं। सब भक्त तो हैं परन्तु सबको एक जैसा फल नहीं मिलता है। कोई को साक्षात्कार होता है, कोई को पुत्र मिलता है, अल्पकाल के लिए। किस्म-किस्म की मनोकामनायें पूरी करता हूँ। दुनिया में यह किसको पता नहीं कि भगवान् आया हुआ है राजयोग सिखलाने। समझते हैं वह द्वापर में आया तब राजयोग सिखाया होगा। फिर वहाँ नर से नारायण कैसे बनेंगे? अभी ही बाप तुम्हें राजयोग सिखलाकर राजाओं का राजा बनाते हैं। यहाँ तो तुम्हें सिर्फ चुप रहना है। मनमनाभव, यही सतगुरू का सहज वशीकरण मंत्र है। इस मंत्र में बहुत आमदनी है। यह माया को अपने अधीन करने का मंत्र है। मायाजीत जगतजीत। भक्ति मार्ग वालों का है मन जीते जगतजीत, इसके लिए वह हठयोग आदि करते हैं। सो भी जगतजीत बनने के लिए नहीं करते हैं। वह तो मुक्ति के लिए करते हैं। बाप आकर कहते हैं – बच्चे, देह सहित, सर्व धर्मानि……. मैं फलाने धर्म का हूँ, फलाना हूँ। यह सब बातें छोड़ अपने को आत्मा समझ मामेकम् याद करो। बस मैं जो मत दे रहा हूँ उस पर चलो। बाकी अब तक जो अनेक मतों पर चलते आये उन सबकी मत छोड़नी पड़े। तो तुम्हारा ज्ञान बिल्कुल नया हो गया। समझते हैं इन्हों की बातें तो नई हैं।

तुम बच्चे जब किसी को भी समझाते हो तो पहले उनकी नब्ज देखनी है। सबके सामने एक जैसी बात नहीं करनी है। मनुष्यों की हैं अनेक मतें। तुम्हारी है एक मत। परन्तु नम्बरवार हैं। जो अच्छा योग में रहते हैं, धारणा करते हैं, वह जरूर अच्छा समझायेंगे। कम धारणा वाले कम समझायेंगे। कोई भी हो उनको एक ही सिम्पुल बात बताओ-भल गृहस्थ व्यवहार में रहते रहो परन्तु कमल फूल समान। तुमको मालूम है कमल के फूल को बाल-बच्चे बहुत होते हैं और मिसाल भी उनका ही दिया जाता है। बाप को भी बाल बच्चे तो बहुत हैं। कमल का फूल खुद पानी के ऊपर रहता है, बाकी बाल बच्चे नीचे रहते हैं। यह मिसाल अच्छा है। बाबा कहते हैं गृहस्थ व्यवहार में रहो परन्तु पवित्र रहो। यह बात हो गई पवित्रता पर। सो भी इस अन्तिम जीवन के लिए पवित्र रह मामेकम् याद करो। रचना की पालना भी जरूर करनी है। नहीं तो हठयोग हो जायेगा। दुनिया में पवित्र तो बहुत रहते हैं। बाल ब्रह्मचारी तो भीष्म पितामह मिसल हो गया। अच्छा बाल ब्रह्मचारी वह जो स्त्री-पुरुष दोनों इकट्ठे रह पवित्र रहे। गन्धर्वी विवाह की चर्चा तो शास्त्रों में भी है, परन्तु कोई जानते नहीं हैं। यह तो बाप ही समझाते हैं। बाबा कहते हैं-बच्चे, अब काम चिता के बदले दोनों ज्ञान चिता का हथियाला बांधो। कैसा अच्छा काम तुम ब्राह्मण करते हो। प्रतिज्ञा करनी है पवित्र रहने की। एक-दो को सावधान करते तुम दोनों स्वर्ग में चले जायेंगे। यहाँ तुम इकट्ठे पवित्र रहकर दिखाते हो इसलिए तुम बड़ा ऊंच पद ले सकते हो। मिसाल दिया जायेगा ना। ज्ञान चिता पर बैठ स्वर्ग में जाकर ऊंच पद पाते हैं। इसमें हिम्मत है बड़ी, अगर पक्के हो चलते रहो तो पद बहुत ऊंच है। फिर सर्विस पर भी मदार है। जो बहुत सर्विस करेंगे, प्रजा बनायेंगे वह पद भी अच्छा पायेंगे। बाबा-मम्मा से भी ऊंच चला जाना चाहिए। परन्तु जैसे बाबा कहते हैं वह दोनों क्रिश्चियन अगर आपस में मिल जाएं तो विश्व के मालिक बन जायें, ऐसे जोड़ा कोई निकले जो माँ-बाप से ऊंच जाये, सो है नहीं। जगत अम्बा, जगत पिता ही नामीग्रामी है। इन जैसी सर्विस कर नहीं सकेंगे। यह निमित्त बने हुए हैं इसलिए कभी हार्टफेल नहीं होना चाहिए। अच्छा, मम्मा-बाबा जैसा नहीं तो सेकेण्ड नम्बर तो बन सकते हो। सर्विस पर मदार है। प्रजा और वारिस बनाने हैं, तो यह अपनी बातें हैं नई। नई दुनिया रचने के लिए जरूर बाप को आना पड़े। वही रचयिता है। वह तो कह देते हैं-परमात्मा नाम रूप से न्यारा है। परन्तु ऐसा है नहीं। उनका भी कोई दोष नहीं। तकदीर में हो तो समझें। बहुत आते हैं जो समझते भी हैं कि बात तो बरोबर ठीक है। कोई कहे आत्मा का नाम रूप नहीं है, तब आत्मा नाम किसका पड़ा? आत्मा नाम तो है ना। तुम सबको बोलो यह राजयोग है। परमपिता परमात्मा संगम पर आते हैं, राजयोग जरूर संगमयुग पर सिखायेंगे तब तो पतित को पावन बनायेंगे। तो यहाँ की बात ही न्यारी है। बाप कहते हैं सिर्फ अपने को आत्मा समझो। बाप के पास जाना है। इसमें प्रश्न पूछने की कोई बात ही नहीं। कहते भी हैं कि हमारी आत्मा को न दुखाओ। यह पाप आत्मा है, पुण्य आत्मा है। आत्मा के लिए कोई कह न सके कि उनका कोई रूप नहीं होता है। विवेकानंद जब रामकृष्ण के सामने बैठा तो उनको साक्षात्कार हुआ, देखा कि लाइट आई जो मेरे में प्रवेश हुई। ऐसे कुछ बात बताते हैं। तुम बोलो हमारा है राजयोग। इसमें देह सहित देह के सभी मित्र सम्बन्धियों आदि को भूलना पड़ता है, हम आत्मा उनके बच्चे हैं, आपस में ब्रदरहुड हैं। अगर सभी फादर हो जाते तो फिर फादर ही फादर को प्रार्थना करते। अभी हम राजयोग सीख रहे हैं। यह है राजाओं का राजा बनने का योग। अभी तो राजाई है नहीं। तो समझाना है हम शान्ति में रहकर सिर्फ शिवबाबा को याद करते हैं। अपने को शरीर से न्यारा समझते हैं। आत्मा कहती है मैं एक शरीर छोड़ दूसरा लेती हूँ। तो नॉलेज का संस्कार आत्मा में रहता है ना। अच्छा वा बुरा संस्कार आत्मा में है। आत्मा निर्लेप नहीं है, यह समझाना है। आत्मा पुनर्जन्म में आती है। घड़ी-घड़ी आरगन्स लेना पड़ता है। आत्मा स्टॉर है, भ्रकुटी के बीच रहती है। आत्मा का साक्षात्कार हुआ, तो उसने समझा इनमें इतनी ताकत है जो मुझे आत्मा का साक्षात्कार कराया। अब आत्मा तो भ्रकुटी के बीच में रहती है। साक्षात्कार किया न किया, फ़र्क क्या रहा? आत्मा खुद कहती है मैं स्टार हूँ। मेरे में 84 जन्मों का पार्ट है। अगर 84 लाख जन्म हो तो इतने संस्कार हों जो पता नहीं क्या हो जाए! 84 जन्म मान सकते हैं। 84 लाख तो मान न सकें। अभी हम पावन बन रहे हैं। बाबा ने हमें नर से नारायण बनने के लिए पवित्र बनाया है, यह बहुत अच्छा नशा चाहिए। तुम्हें कोई से भी डिबेट करने की दरकार नहीं।

देह सहित देह के सब धर्म त्याग अपने को आत्मा, अशरीरी समझना है। भल हमने शास्त्र आदि पढ़े हैं, परन्तु डिस्कस क्यों करें? जबकि बाप ने कहा है मामेकम् याद करो और दूसरा फ़रमान है गृहस्थ व्यवहार में कमल फूल समान पवित्र रहो। योग अग्नि से ही पाप नाश होंगे। भगवानुवाच है, भगवान भी परम आत्मा है। उनको भी स्टॉर कहेंगे। बहुत प्वाइंट्स हैं एक समय नहीं निकल सकती। आसामी देख युक्ति से उठाना है। बोलो, हम भी शास्त्र पढ़ते हैं परन्तु बाप का फ़रमान है कि सभी को भूल मामेकम् याद करो। वह है निराकार। आत्मा को तो सब मानेंगे। विवेकानंद वाले भी मानेंगे। आत्मा तो सभी में है। जरूर उनका बाप होगा ना जिसको परमपिता परमात्मा कहा जाता है। यह सब प्वाइंट्स हैं ना। यह सिमरण करने से सदैव प्वाइंट्स मिलती रहेंगी, स्टीमर भरता रहेगा। यह भी जैसे अविनाशी ज्ञान रत्नों का वखर (सामग्री) भरता है। प्वाइंट्स नोट कर रिवाइज़ करो। यह हैं रत्न, इनको धारण करने और लिखने का शौक चाहिए। अच्छी तरह से सबको समझाना है, आत्मा तो सभी में है उनका नाम रूप नहीं है। ऐसे तो कह नही सकेंगे आत्मा का रूप है तो परमात्मा का क्यों नहीं है। उनको कहा ही जाता है परमपिता परमात्मा, परमधाम में रहने वाला। कितना बच्चों को समझाया जाता है। तो अब सर्विस करके दिखाओ। बाबा तो सर्विस पर इनाम देते हैं। कितना श्रंगार कराते हैं ज्ञान रत्नों का। हम यहाँ के पदमपति नहीं बनना चाहते हैं, हमको तो चाहिए विश्व की बादशाही। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ज्ञान रत्न जो मिलते हैं उन पर विचार सागर मंथन कर स्वयं में धारण करना है। ज्ञान रत्नों से सदा भरपूर रहना है।

2) अपने नारायणी नशे में रहना है, वाह्यात बातें किसी से भी नहीं करनी है। अशरीरी बनने का अभ्यास करना है।

वरदान:- माया को दुश्मन के बजाए पाठ पढ़ाने वाली सहयोगी समझ एकरस रहने वाले मायाजीत भव
माया आती है आपको पाठ पढ़ाने के लिए, इसलिए घबराओ नहीं, पाठ पढ़ लो। कभी सहनशीलता का पाठ, कभी शान्त स्वरूप बनने का पाठ पक्का कराने के लिए ही माया आती है इसलिए माया को दुश्मन के बजाए अपना सहयोगी समझो तो घबराहट में हार नहीं खायेंगे, पाठ पक्का करके अंगद के समान अचल बन जायेंगे। कभी भी कमजोर बन माया का आहवान नहीं करो तो वह विदाई ले लेगी।
स्लोगन:- हर संकल्प में दृढ़ता की महानता हो तो सफलता मिलती रहेगी।

मातेश्वरी जी के मधुर महावाक्य

”परमात्मा की सद्गति करने की गत मत परमात्मा ही जानता है”

तुम्हारी गत मत तुम ही जानो… अब यह महिमा किसकी यादगार में गाते हैं? क्योंकि परमात्मा की सद्गति करने की जो मत है वो तो परमात्मा ही जानता है। मनुष्य नहीं जान सकता, मनुष्य की सिर्फ यह इच्छा रहती है कि हमको सदा के लिये सुख चाहिए, मगर वो सुख कैसे मिले? जब तक मनुष्य अपने 5 विकारों को भस्म कर कर्म अकर्म नहीं बनाये तब तक वो सुख मिल नहीं सकता, क्योंकि कर्म अकर्म विकर्म की गति बहुत गहन है जिसको सिवाए परमात्मा के और कोई मनुष्य आत्मा उसकी गति को नहीं जान सकता। अब जब तक परमात्मा ने वो गति नहीं सुनाई है तब तक मनुष्यों को जीवनमुक्ति प्राप्त नहीं हो सकती, इसलिए मनुष्य कहते हैं तेरी गत मत तुम ही जानो। इनकी सद्गति करने की मत वो परमात्मा के पास है। कैसे कर्मों को अकर्म बनाना है, यह शिक्षा देना परमात्मा का काम है। बाकी मनुष्यों को तो यह ज्ञान नहीं, जिस कारण वो उल्टा कार्य करते रहते हैं, अब मनुष्य का पहला फर्ज़ है अपने कर्मों को सुधारना, तब ही मनुष्य जीवन का पूरा लाभ उठा सकेंगे। अच्छा। ओम् शान्ति।

Font Resize