23 September ki murli

TODAY MURLI 23 SEPTEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 23 September 2020

23/09/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the only concern you should have is how to show everyone the path to the land of happiness. Everyone should know that this is the confluence age in which you become the most elevated human beings.
Question: When do you children give congratulations to one another? When do human beings give congratulations to one another?
Answer: Human beings give congratulations when someone is born, when someone is victorious, on someone’s wedding day or on a special, important day. However, those are not real congratulations. You children give one another congratulations for belonging to the Father. You say: We are so fortunate that we have been liberated from all sorrow and that we will go to the land of happiness. You experience happiness in your hearts.

Om shanti. The unlimited Father sits here and explains to the unlimited children. The question now arises: Who is the unlimited Father? You know that the Father of all is the One who is called the Supreme Father. A physical father cannot be called the Supreme Father. There is only the one Supreme Father and all the children have forgotten Him. Therefore, you children understand how the Supreme Father, the Supreme Soul, who is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness, is removing your sorrow and that you will then go into peace and happiness. Not everyone will go into happiness. Some will remain in peace and others will go into happiness. Some play their parts from the golden age, some from the silver age and others from the copper age. When you live in the golden age, everyone else will be in the land of liberation. That is called God’s home. When the Muslims say their prayers, they all get together and pray to God (Khuda). What for? Is it to go to Paradise or to go to God (Allah)? God’s home cannot be called Paradise, there, souls stay in silence. There are no bodies there. They must know they will go to Allah not with their bodies, but as souls. One cannot become pure just by remembering Allah without knowing Him. Now, how can you advise people that the Father is giving everyone the inheritance of peace and happiness? How can you explain to them how there can be peace in the world and when there was peace in the world? Serviceable children think about these things, numberwise, according to the effort they make. The Father has only given you Brahmins, the mouth-born creation, His introduction. He has also told you about the parts that all the people of the world play. Now, how can we give people the introduction of the Father and the creation? The Father tells everyone: Consider yourself to be a soul and remember Me and you will go to God’s home. Not everyone will go to the golden age. There, there is only the one religion; all the rest are in the land of peace. There is no question of becoming upset about this. People ask for peace, but that can only be received in the home of Allah, God the Father. All souls come from the land of peace. Everyone will return there when the play comes to an end. The Father comes and takes everyone from the impure world back home. It is now in the intellects of you children that you are now to go to the land of peace and that you will then go to the land of happiness. This is the most elevated confluence age. “Elevated human beings” means those who are the highest-on-high beings. Until a soul becomes pure, he cannot become an elevated human being. The Father now says: Remember Me and understand the world cycle and also imbibe divine virtues. At this time, the characters of all human beings are spoilt. In the new world, their characters are firstclass. It is the people of Bharat who become ones with elevated characters. Those who have lesser characters bow down to those with elevated characters and also speak of their characters. Only you children understand this. How can you explain to others? What easy method should you create to open the third eye of souls? The soul of Baba has knowledge. People say that they have knowledge. That is body consciousness. Here, you have to become soul conscious. Sannyasis have knowledge of the scriptures. You can only have the Father’s knowledge when He comes and gives it. Explain this with tact. Those people consider Krishna to be God; they don’t know God. Rishis and munis used to say that they didn’t know but they did understand that human beings cannot be God. Only the incorporeal Father is the Creator, but how does He create? What is His name, form, land and time? They don’t know, so they say that He is beyond name and form. They don’t have enough sense to realise that there cannot be anything without a name or form, that that is impossible. If they say that He is in the pebbles and stones or in a fish or a crocodile, that is a name and form. Sometimes they say one thing and at other times they say something else. You children should think a lot, day and night, about how to explain to people. This is the most elevated confluence age in which you become deities from ordinary humans. Human beings bow down to the idols of the deities. Human beings don’t bow down to the idols of human beings. Human beings have to bow down to God or the deities. Muslims also pray to Allah, they remember Allah. You know that they would not be able to reach Allah. The main thing is how to reach Allah. How then does Allah create the new world? How can you explain all of these things? You children have to churn the ocean of knowledge for this. The Father doesn’t have to churn the ocean of knowledge. The Father teaches you children the way to churn the ocean of knowledge. At this time, everyone in the iron age is tamopradhan. There will definitely be the golden ageat some time. The golden age is said to be pure. There is purity and impurity. Alloy is mixed into gold. Souls too are pure, satopradhan, at first and then alloy is mixed into them. When souls have become tamopradhan the Father has to come. Only the Father comes and creates the satopradhan land of happiness. There are only the people of Bharat in the land of happiness. All the rest remain in the land of peace. Everyone in the land of peace is pure, and then, when they come down here, they very slowly continue to become impure. Every human being definitely goes through the stages of sato, rajo and tamo. How can you tell everyone that they can all go to God’s home? God speaks: Renounce all bodily relations and consider yourselves to be souls. When you remember Me, the five evil spirits will be removed from you. You children should have this concern day and night. The Father too is concerned and this is why He had the thought of coming here to make everyone happy. Along with that, you children have to become His helpers. What could the Father do alone, by Himself? Therefore, churn this ocean of knowledge. What method should you create so that people can quickly understand that this is the most elevated confluence age? It is only at this time that people can become most elevated. First, they are elevated and then they fall; they don’t fall straight away; they don’t become tamopradhan as soon as they come down. Everything is at first satopradhan and then it goes through the stages of sato, rajo and tamo. You children hold so many exhibitions, but, in spite of that, people don’t understand anything. Therefore, what other method should you create? You have to find different methods. You have been given time for this. No one can become complete and perfect instantly. The moon too only becomes full gradually. We became tamopradhan gradually and so it also takes time for us to become satopradhan. That is non-living and this is living. So, how can we explain? You should explain to the mullahs (heads of the mosques) of the Muslims why they pray (do namaz) and in whose remembrance they do it. You have to churn these things. Presidents etc. go to mosques on big and important days. They go and meet the senior people. There are small mosques and there is also one main mosque where they all go and give greetings for Eid. Now, greetings are to be given when all of us become liberated from all types of sorrow and we then go to the land of happiness. We are giving you good news. When someone wins something, he is congratulated. Even when couples get married, they are given congratulations. “May you always remain happy.” The Father has explained to you how you can give congratulations to one another. At this time, we are claiming our inheritance of liberation and liberation-in-life from the unlimited Father. You can receive congratulations for this. The Father says: Congratulations to you! You are becoming multimillionaires for 21 births. How can all the people claim their inheritance from the Father that they can be congratulated? You now know all of this but people cannot congratulate you; they don’t know you. When they give you congratulations, they too can become worthy of receiving congratulations. You are incognito. You can congratulate each other: Congratulations! We now belong to the unlimited Father. You are so fortunate! When someone wins a lottery or a child is born in his family, he is congratulated. When a child passes his examination, he is congratulated. You have happiness deep in your hearts. You give congratulations to yourselves. We have found the Father from whom we receive our inheritance. The Father explains: All of you souls went into degradation and are now receiving salvation. Everyone received the same congratulations. At the end everyone will come to know. Those who are lower down will give congratulations to those who are the highest on high. You become the emperors and empresses of the sun-dynasty clan. Those who are lower in the clan will give congratulations to those who become beads of the rosary of victory. Those who pass will be congratulated; they will be worshipped. Congratulations will be given to the souls who receive a high status. Those souls will then be worshipped on the path of devotion. People don’t know why they worship them. Therefore, the only concern you children should have is how to explain to others. We have become pure, so how can we make others pure? The world is huge. What should we do so that the message can reach every home? When leaflets are dropped, not everyone will receive them. Each one has to have the message put into his hands because no one knows at all how to reach the Father. They say that all paths lead to God. However, the Father says: You have been worshipping and making donations and performing charity for birth after birth and yet you didn’t find the path. They say that all of that has continued eternally, but when did it begin? They don’t understand the meaning of “eternally”. You, too, understand, numberwise, according to the efforts you make. For 21 births there is the reward of knowledge which is happiness, and then there is sorrow. The accounts of those who have done the most devotion are explained to you children. Not all of these details can be explained to each one individually. What should we do? Print it in the papers? That would take time. Not everyone will receive the message that quickly. If everyone began to make effort, all of them would then go to heaven; it cannot be like that. You are now making effort for heaven. How can we make those who belong to our religion emerge again? How can you know who has been transferred (converted)? Those who believe in the Hindu religion belonged originally to the deity religion. No one even knows this. Those who are staunch Hindus will believe in their original, eternal, deity religion. At this time all are impure. They call out: O Purifier come! They call out to the incorporeal One to come and take them to the pure world. How did they claim such a huge kingdom? There is no kingdom in Bharat at this time which they would have defeated and claimed. They don’t attain their kingdom by battling. No one knows how ordinary human beings can be made into deities. You have now come to know this from the Father. How can we tell this to others so that they can attain liberation and liberation-in-life? There has to be someone who inspires them to make effort, so that they can know themselves and remember Allah. Ask them: To whom do you give congratulations at the time of Eid? Do you have the firm faith that you are going to Allah? You have so much happiness in that. You have been doing that for many years. You become confused as to whether you will ever go to God or not. Why have we been studying? The Highest on High is Allah alone. Tell them: You too are souls, children of Allah. Souls desire to go to Allah. Souls that are at first pure have now become impure. This world cannot be called heaven now. All souls are impure. How can they become pure so that they can go to the home of Allah? Vicious souls don’t exist there; they have to be viceless. Souls do not become satopradhan immediately. All of these things are to be thought about and churned. Baba churns the ocean of knowledge and this is how he is able to explain to you. You too should create ways to explain to others. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and Good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. The Father had the thought to come here and liberate the children from their sorrow and make them happy. You have to become the Father’s helpers in the same way. You should also think of ways of enabling the message to reach every home.
  2. In order to receive congratulations from everyone, make effort to become a bead of the rosary of victory. Become worthy of worship.
Blessing: May you be a special server who reveals the Father with a balance of humility and authority.
When there is a balance, wonders are visible. When you give anyone the Father’s introduction with a balance of humility and authority, wonders will be visible. You have to glorify the Father in this way. Let your words be clear and filled with love, humility and sweetness, as well as with greatness and truth, and revelation will then take place. In-between speaking, continue to give them experiences through which they will feel themselves to be lost in love. Those who serve in this way are special servers
Slogan: Even if you do not have any facilities at a time of need, do not let any obstacles stop your spiritual endeavour.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 23 SEPTEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 23 September 2020

Murli Pdf for Print : – 

23-09-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
”मीठे बच्चे – तुम्हें यही चिंता रहे कि हम कैसे सबको सुखधाम का रास्ता बतायें, सबको पता पड़े कि यही पुरूषोत्तम बनने का संगमयुग है”
प्रश्नः- तुम बच्चे आपस में एक-दो को कौन सी मुबारक देते हो? मनुष्य मुबारक कब देते हैं?
उत्तर:- मनुष्य मुबारक तब देते, जब कोई जन्मता है, विजयी बनता है या शादी करता है या कोई बड़ा दिन होता है। परन्तु वह कोई सच्ची मुबारक नहीं। तुम बच्चे एक-दो को बाप का बनने की मुबारक देते हो। तुम कहते हो कि हम कितने खुशनशीब हैं, जो सब दु:खों से छूट सुखधाम में जाते हैं। तुम्हें दिल ही दिल में खुशी होती है।

ओम् शान्ति। बेहद का बाप बैठ बेहद के बच्चों को समझाते हैं। अब प्रश्न उठता है, बेहद का बाप कौन? यह तो जानते हो कि सबका बाप एक है, जिसको परमपिता कहा जाता है। लौकिक बाप को परमपिता नहीं कहा जाता। परमपिता तो एक ही है, उनको सब बच्चे भूल गये हैं इसलिए परमपिता परमात्मा जो दु:ख हर्ता, सुख-कर्ता है उसे तुम बच्चे जानते हो कि बाप हमारे दु:ख कैसे हर रहे हैं फिर सुख-शान्ति में चले जायेंगे। सब तो सुख में नही जायेंगे। कुछ सुख में, कुछ शान्ति में चले जायेंगे। कोई सतयुग में पार्ट बजाते, कोई त्रेता में, कोई द्वापर में। तुम सतयुग में रहते हो तो बाकी सब मुक्तिधाम में। उनको कहेंगे ईश्वर का घर। मुसलमान लोग जब नमाज़ पढ़ते हैं तो सब मिलकर खुदाताला की बन्दगी करते हैं। किसलिए? क्या बहिश्त के लिए या अल्लाह के पास जाने के लिए। अल्लाह के घर को बहिश्त नहीं कहेंगे। वहाँ तो आत्मायें शान्ति में रहती हैं। शरीर नहीं रहते। यह जानते होंगे अल्लाह के पास शरीर से नहीं परन्तु हम आत्मायें जायेंगी। अब सिर्फ अल्लाह को याद करने से तो कोई पवित्र नहीं बन जायेंगे। अल्लाह को तो जानते ही नहीं। अब यह मनुष्यों को कैसे राय दें कि बाप सुख-शान्ति का वर्सा दे रहे हैं। विश्व में शान्ति कैसे होती है, विश्व में शान्ति कब थी – यह उन्हों को कैसे समझायें। सर्विसएबुल बच्चे जो हैं नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार उन्हों को यह चिंतन रहता है। तुम ब्रह्मा मुख वंशावली ब्राह्मणों को ही बाप ने अपना परिचय दिया है, सारी दुनिया के मनुष्य मात्र के पार्ट का भी परिचय दिया है। अब हम मनुष्य मात्र को बाप और रचना का परिचय कैसे दें? बाप सबको कहते हैं अपने को आत्मा समझ मुझे याद करो तो खुदा के घर चले जायेंगे। गोल्डन एज अथवा बहिश्त में सब तो जायेंगे नहीं। वहाँ तो होता ही एक धर्म है। बाकी सब शान्तिधाम में हैं, इसमें कोई नाराज़ होने की बात ही नहीं। मनुष्य शान्ति मांगते हैं, वह मिलती ही है अल्लाह अथवा गॉड फादर के घर में। आत्मायें सब आती हैं शान्तिधाम से, वहाँ फिर तब जायेंगे जब नाटक पूरा होगा। बाप आते भी हैं पतित दुनिया से सबको ले जाने के लिए।

अभी तुम बच्चों की बुद्धि में है, हम शान्तिधाम में जाते हैं फिर सुखधाम में आयेंगे। यह है पुरूषोत्तम संगम-युग। पुरूषोत्तम अर्थात् उत्तम से उत्तम पुरूष। जब तक आत्मा पवित्र न बनें, तब तक उत्तम पुरूष बन नहीं सकते। अब बाप तुमको कहते हैं मुझे याद करो और सृष्टि चक्र को जानो और साथ में दैवीगुण भी धारण करो। इस समय सभी मनुष्यों के कैरेक्टर बिगड़े हुए हैं। नई दुनिया में तो कैरेक्टर बहुत फर्स्टक्लास होते हैं। भारतवासी ही ऊंच कैरेक्टर वाले बनते हैं। उन ऊंच कैरेक्टर वालों को कम कैरेक्टर वाले माथा टेकते हैं। उनके कैरेक्टर्स वर्णन करते हैं। यह तुम बच्चे ही समझते हो। अब औरों को समझायें कैसे? कौन-सी सहज युक्ति रचें? यह है आत्माओं का तीसरा नेत्र खोलना। बाबा की आत्मा में ज्ञान है। मनुष्य कहते हैं मेरे में ज्ञान है। यह देह-अभिमान है, इसमें तो आत्म-अभिमानी बनना है। सन्यासी लोगों के पास शास्त्रों का ज्ञान है। बाप का ज्ञान तो जब बाप आकर देवे। युक्ति से समझाना है। वो लोग कृष्ण को भगवान समझ लेते हैं। भगवान को जानते ही नहीं, ऋषि-मुनि आदि कहते थे हम नहीं जानते हैं। समझते हैं मनुष्य भगवान हो नहीं सकता। निराकार भगवान ही रचता है। परन्तु वह कैसे रचता है, उनका नाम, रूप, देश, काल क्या है? कह देते नाम-रूप से न्यारा है। इतनी भी समझ नहीं कि नाम-रूप से न्यारी वस्तु हो कैसे सकती, इम्पासिबुल है। अगर कहते हैं पत्थर-ठिक्कर, कच्छ-मच्छ सबमें है तो वह नाम-रूप हो जाता है। कब क्या, कब क्या कहते रहते हैं। बच्चों को दिन-रात बहुत चिंतन चलना चाहिए कि मनुष्यों को हम कैसे समझायें। यह मनुष्य से देवता बनने का पुरूषोत्तम संगमयुग है। मनुष्य देवताओं को नमन करते हैं। मनुष्य, मनुष्य को नमन नहीं करता, मनुष्यों को भगवान अथवा देवताओं को नमन करना होता है। मुसलमान लोग भी बन्दगी करते हैं, अल्लाह को याद करते हैं। तुम जानते हो वो लोग अल्लाह के पास पहुँच तो नहीं सकेंगे। मुख्य बात है अल्लाह के पास कैसे पहुँचें? फिर अल्लाह कैसे नई सृष्टि रचते हैं। यह सब बातें कैसे समझायें, इसके लिए बच्चों को विचार सागर मंथन करना पड़े, बाप को तो विचार सागर मंथन नहीं करना है। बाप विचार सागर मंथन करने की युक्ति बच्चों को सिखलाते हैं। इस समय सब आइरन एज में तमोप्रधान हैं। जरूर कोई समय गोल्डन एज भी होगी। गोल्डन एज को प्योर कहा जाता है। प्योरिटी और इम्प्योरिटी। सोने में खाद डाली जाती है ना। आत्मा भी पहले प्योर सतोप्रधान है फिर उनमें खाद पड़ती है। जब तमोप्रधान बन जाती है तब बाप को आना है, बाप ही आकर सतोप्रधान, सुखधाम बनाते हैं। सुखधाम में सिर्फ भारतवासी ही होते हैं। बाकी सब शान्तिधाम में जाते हैं। शान्तिधाम में सब प्योर रहते हैं फिर यहाँ आकर आहिस्ते-आहिस्ते इमप्योर बनते जाते हैं। हर एक मनुष्य सतो, रजो, तमो जरूर बनते हैं। अब उन्हों को कैसे बतायें कि तुम सब अल्लाह के घर पहुँच सकते हो। देह के सब सम्बन्ध छोड़ अपने को आत्मा समझो। भगवानुवाच तो है ही। मेरे को याद करने से यह जो 5 भूत हैं, वह निकल जायेंगे। तुम बच्चों को दिन-रात यह चिंता रहनी चाहिए। बाप को भी चिंता हुई तब तो ख्याल आया कि जाऊं, जाकर सबको सुखी बनाऊं। साथ में बच्चों को भी मददगार बनना है। अकेले बाप क्या करेंगे। तो यह विचार सागर मंथन करो। क्या ऐसा उपाय निकालें जो मनुष्य झट समझ जायें कि यह पुरूषोत्तम संगमयुग है। इस समय ही मनुष्य पुरूषोत्तम बन सकते हैं। पहले ऊंच होते हैं फिर नीचे गिरते हैं। पहले-पहले तो नहीं गिरेंगे ना। आने से ही तो तमोप्रधान नहीं होंगे। हर चीज़ पहले सतोप्रधान फिर सतो, रजो, तमो होती है। बच्चे इतनी प्रदर्शनियाँ आदि करते हैं, फिर भी मनुष्य कुछ समझते नहीं हैं तो और क्या उपाय करें। भिन्न-भिन्न उपाय तो करने पड़ते हैं ना। उसके लिए टाइम भी मिला हुआ है। फट से तो कोई सम्पूर्ण नहीं बन सकते। चन्द्रमा थोड़ा-थोड़ा करके आखिर सम्पूर्ण बनता है। हम भी तमोप्रधान बने हैं, फिर सतोप्रधान बनने में टाइम लगता है। वह तो है जड़ फिर यह है चैतन्य। तो हम कैसे समझायें। मुसलमानों के मौलवी को समझायें कि तुम यह नमाज क्यों पढ़ते हो, किसकी याद में पढ़ते हो। यह विचार सागर मंथन करना है। बड़े दिनों पर प्रेज़ीडेन्ट आदि भी मस्जिद में जाते हैं। बड़ों से मिलते हैं। सब मस्जिदों की फिर एक बड़ी मस्जिद होती है – वहाँ जाते हैं ईद मुबारक देने। अब मुबारक तो यह है जब हम सब दु:खों से छूट सुखधाम में जायें, तब कहा जाए मुबारक हो। हम खुशखबरी सुनाते हैं। कोई विन करते हैं तो भी मुबारक देते हैं। कोई शादी करते हैं तो भी मुबारक देते हैं। सदैव सुखी रहो। अब तुमको तो बाप ने समझाया है, हम एक-दो को मुबारक कैसे दें। इस समय हम बेहद के बाप से मुक्ति, जीवन-मुक्ति का वर्सा ले रहे हैं। तुमको तो मुबारक मिल सकती है। बाप समझाते हैं, तुमको मुबारक हो। तुम 21 जन्मों के लिए पद्मपति बन रहे हो। अब सब मनुष्य कैसे बाप से वर्सा लें, सबको मुबारक दें। तुमको अभी पता पड़ा है परन्तु तुमको लोग मुबारक नहीं दे सकते। तुमको जानते ही नहीं। मुबारक देवें तो खुद भी जरूर मुबारक पाने के लायक बनें। तुम तो गुप्त हो ना। एक-दो को मुबारक दे सकते हो। मुबारक हो, हम बेहद के बाप के बने हैं। तुम कितने खुशनशीब हो, कोई लॉटरी मिलती है या बच्चा जन्मता है तो कहते हैं मुबारक हो। बच्चे पास होते हैं तो भी मुबारक देते हैं। तुमको दिल ही दिल में खुशी होती है, अपने को मुबारक देते हो, हमको बाप मिला है, जिससे हम वर्सा ले रहे हैं।

बाप समझाते हैं – तुम आत्मायें जो दुर्गति को पाई हुई हो वह अब सद्गति को पाती हो। मुबारक तो एक ही सबको मिलती है। पिछाड़ी में सबको मालूम पड़ेगा, जो ऊंच ते ऊंच बनेंगे उनको नीचे वाले कहेंगे मुबारक हो। आप सूर्यवंशी कुल में महाराजा-महारानी बनते हो। नीच कुल वाले मुबारक उनको देंगे जो विजय माला के दाने बनते हैं। जो पास होंगे उनको मुबारक मिलेगी, उनकी ही पूजा होती है। आत्मा को भी मुबारक हो, जो ऊंच पद पाती है। फिर भक्ति मार्ग में उनकी ही पूजा होती है। मनुष्यों को पता नहीं है कि क्यों पूजा करते हैं। तो बच्चों को यही चिंता रहती है कि कैसे समझायें? हम पवित्र बने हैं, दूसरों को कैसे पवित्र बनायें? दुनिया तो बहुत बड़ी है ना। क्या किया जाए जो घर-घर में पैगाम पहुँचे। पर्चे गिराने से सबको तो मिलते नहीं। यह तो एक-एक को हाथ में पैगाम चाहिए क्योंकि उनको बिल्कुल पता नहीं कि बाप के पास कैसे पहुँचें। कह देते हैं सब रास्ते परमात्मा से मिलने के हैं। परन्तु बाप कहते हैं यह भक्ति, दान-पुण्य तो जन्म-जन्मान्तर करते आये हो परन्तु रास्ता मिला कहाँ? कह देते यह सब अनादि चलता आया है, परन्तु कब से शुरू हुआ? अनादि का अर्थ नहीं समझते। तुम्हारे में भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार समझते हैं। ज्ञान की प्रालब्ध 21 जन्म, वह है सुख, फिर है दु:ख। तुम बच्चों को हिसाब समझाया जाता है – किसने बहुत भक्ति की है! यह सभी रेज़गारी बातें एक-एक को तो नहीं समझा सकते। क्या करें, कोई अखबार में डालें, टाइम तो लगेगा। सबको पैगाम इतना जल्दी तो मिल न सके। सब पुरूषार्थ करने लग पड़ें तो फिर स्वर्ग में आ जाएं। यह हो ही नहीं सकता। अब तुम पुरूषार्थ करते हो स्वर्ग के लिए। अब हमारे जो धर्म वाले हैं, उनको कैसे निकालें? कैसे पता पड़े, कौन-कौन ट्रांसफर हुए हैं? हिन्दू धर्म वाले असुल में देवी-देवता धर्म के हैं, यह भी कोई नहीं जानते। पक्के हिन्दू होंगे तो अपने आदि सनातन देवी-देवता धर्म को मानेंगे। इस समय तो सब पतित हैं। बुलाते हैं – पतित-पावन आओ। निराकार को ही याद करते हैं कि हमको आकर पावन दुनिया में ले चलो। इन्होंने इतना बड़ा राज्य कैसे लिया? भारत में इस समय तो कोई राजाई ही नहीं, जिसको जीत कर राज्य लिया हो। वह कोई लड़ाई करके राजाई तो पाते नहीं। मनुष्य से देवता कैसे बनाया जाता, कोई को पता नहीं है। तुमको भी अब बाप से पता पड़ा है। औरों को कैसे बतायें जो मुक्ति-जीवनमुक्ति को पायें। पुरूषार्थ कराने वाला चाहिए ना। जो अपने को जानकर अल्लाह को याद करें। बोलो, तुम ईद की मुबारक किसको कहते हो! तुम अल्लाह के पास जा रहे हो, पक्का निश्चय है? जिसके लिए तुमको इतनी खुशी रहती है। यह तो वर्षों से तुम करते आये हो। कभी खुदा के पास जायेंगे या नहीं? मूंझ पड़ेंगे। बरोबर हम जो पढ़ते करते हैं, क्या करने के लिए। ऊंच ते ऊंच एक अल्लाह ही है। बोलो, अल्लाह के बच्चे तुम भी आत्मा हो। आत्मा चाहती है – हम अल्लाह के पास जायें। आत्मा जो पहले पवित्र थी, अभी पतित बनी है। अभी इनको बहिश्त तो नहीं कहेंगे। सब आत्मायें पतित हैं, पावन कैसे बनें जो अल्लाह के घर जायें। वहाँ विकारी आत्मा होती नहीं। वाइसलेस होनी चाहिए। आत्मा कोई फट से तो सतोप्रधान नहीं बनती। यह सब विचार सागर मंथन किया जाता है। बाबा का विचार सागर मंथन चलता है तब तो समझाते हैं ना। युक्तियाँ निकालनी चाहिए, किसको कैसे समझायें। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) जैसे बाप को ख्याल आया कि मैं जाकर बच्चों को दु:खों से छुड़ाऊं, सुखी बनाऊं, ऐसे बाप का मददगार बनना है, घर-घर में पैगाम पहुँचाने की युक्तियाँ रचनी हैं।

2) सर्व की मुबारकें प्राप्त करने के लिए विजय माला का दाना बनने का पुरूषार्थ करना है। पूज्य बनना है।

वरदान:- नम्रता और अथॉर्टी के बैलेन्स द्वारा बाप को प्रत्यक्ष करने वाले विशेष सेवाधारी भव
जहाँ बैलेन्स होता है वहाँ कमाल दिखाई देती है। जब आप नम्रता और सत्यता की अथॉर्टी के बैलेन्स से किसी को भी बाप का परिचय देंगे तो कमाल दिखाई देगी। इसी रूप से बाप को प्रत्यक्ष करना है। आपके बोल स्पष्ट हों, उसमें स्नेह भी हो, नम्रता और मधुरता भी हो तो महानता और सत्यता भी हो तब प्रत्यक्षता होगी। बोलते हुए बीच-बीच में अनुभव कराते जाओ जिससे लगन में मगन मूर्त अनुभव हो। ऐसे स्वरूप से सेवा करने वाले ही विशेष सेवाधारी हैं।
स्लोगन:- समय पर कोई भी साधन न हो तो भी साधना में विघ्न न पड़े।

TODAY MURLI 23 SEPTEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 23 September 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 22 September 2019:- Click Here

23/09/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, if your third eye of knowledge always remains open, you will have goose pimples of happiness and your mercury of happiness will stay constantly high.
Question: What method should you use to explain to human beings, because their eyesight is very weak at this time?
Answer: Baba says: Make such large pictures for them that they can understand them from a distance. This picture of the globe (world cycle) should be very large. This is a mirror for the blind.
Question: Who become your helpers in cleansing the whole world?
Answer: Natural calamities become your helpers. You definitely need helpers to clean up this unlimited world.

Om shanti. It is sung: You receive your inheritance, which is liberation-in-life, from the Father in a second. All others are in lives of bondage. This Trimurti and the picture of the world cycle are the main ones. These pictures should be very large. A big mirror is needed for the blind so that they can see very clearly because everyone’s eyesight at present is weak and they lack wisdom. The third eye is said to be the intellect. You now have happiness in your intellects. If some don’t have goose pimples of happiness, it means they are not remembering Shiv Baba. Therefore, it would be said that their third eyes of knowledge have only opened a little and that they have blurred vision. The Father explains: You have to explain to others in short. Many big gatherings etc. take place and you children know that just one picture is actually enough to do service with. Even if you only have a picture of the globe, it doesn’t matter. The Father explains to you the secrets of the drama, the tree, that is, the kalpa tree, and the cycle of 84 births. You receive this inheritance from the Father through Brahma. This is very clear. Everything is included in this picture so there is no need for so many pictures. These two pictures should have very big writing. There should also be the writing on it: Liberation-in-life is your birthright from God, the Father, before the coming destruction. Destruction also definitely has to take place. According to the drama plan, everyone will understand for themselves. There will be no need for you to explain anything. You receive this unlimited inheritance from the unlimited Father. You should remember this very clearly, but Maya makes you forget. Time continues to pass by. It is remembered that a lot of time has gone by. This refers to the present time. Only a short time now remains. Establishment is taking place anyway and a short time is left before destruction. Even in this short time, only a little time remains. Just think about it: what will happen then? People don’t awaken now, but they will continue to awaken later. Their eyes will continue to widen. This doesn’t refer to these physical eyes, but to the eye of the intellect. There isn’t as much pleasure using small pictures. Large pictures should be made. Science also helps so much. Even the elements help in destruction. They give you so much help without your spending a penny. They cleanse everything for you. This is a completely dirty world. In Ajmer, they have a memorial of heaven. Here, in Dilwala, there is the memorial of establishment, but they cannot understand anything. You have now become sensible. People say that they don’t believe that destruction will take place, so this is why they are unable to understand it. There is a story about the boy who said that a lion had come.No one believed him and then, one day, a lion came and ate all the cows. You too continue to say that this old world is about to end. A lot of time has gone by and only a little remains. You children should have all of this knowledge in your intellects. It is the soul that imbibes everything. The soul of the Father also has knowledge. He gives you knowledge when He adopts a body. It is definitely because He has knowledge in Him that He is called “Knowledge-full God, the Father. He knows the beginning, middle and end of the whole world. He knows Himself and He also has the knowledge of how the world cycle turns. This is why the word “Knowledge-full” in English is very good. He is the Seed of the human world tree and so He has all the knowledge. You know this, numberwise, according to the efforts you make. Shiv Baba is knowledge-full. This should remain in your intellects very well. It isn’t that everyone is able to imbibe everything to the same extent. Although some take notes, they do not imbibe any of it at all. They write it down just for the sake of it, they wouldn’t be able to prove it to anyone. They simply show it on paper, but what would paper do? No one will be able to understand with just paper. From this picture, people will be able to understand very well. Knowledge is the greatest of all, and so the writing should also be very big. When people see large pictures, they can understand that there is definitely some meaning in them. “Establishment and destruction” are also written. Establishment of the kingdom is your Godfatherly birthright. Every child has a right to liberation-in-life. Everyone is in a life of bondage, so the intellects of you children should work on how we can take them from a life of bondage into liberation-in-life. You will first go to the land of peace and then to the land of happiness. The land of happiness is called liberation-in-life. Very large pictures should be specially made. These are the main pictures. If the writing is very big, people will say: The BKs have made such large pictures, so there must definitely be some knowledge in them. So, if your large pictures are put up everywhere, people will ask: What is this? Tell them: All of these large pictures have been made so that you can understand. It is written very clearly on them: They had the unlimited inheritance. It was a matter of only yesterday. They don’t have it now because, by taking 84 rebirths, they have come down. From being satopradhan, everyone has to become tamopradhan. This is a play of knowledge and devotion, of being worthy of worship and a worshipper. The whole play is made of half and half. So, you need to have courage to make such large pictures. You also need to have an interest in doing service. You have to serve every corner of Delhi. Many people go to the fairs etc. and these pictures will be very useful for you there. The Trimurti and the cycle are the main ones. These are very good things. These are like a mirror in front of the blind. Blind ones have to be taught. It is souls that study, but when the organs of souls are small, pictures etc. are used to teach them. Then, when they grow up a little, they are shown a map of the world. That entire map then stay in their intellects. You now have the whole cycle of the drama in your intellects. There are so many religions, and you now know how they come down, numberwise, and how they then go back. There, there is just the one original, eternal deity religion which is called heaven. By having yoga with the Father, souls will become pure from impure. The ancient yoga of Bharat is very well known. Yoga means remembrance. The Father says: Remember Me, the Father! He has to say this. A physical father does not have to say: Remember me! Children automatically call out: Baba! Mama! (to their physical parents). Those are physical parents whereas that One is the parlokik One whose praise is sung: We receive a lot of happiness through Your mercy. Only those who have sorrow sing this. There is no need to say this when in happiness. It is because they are in sorrow that they call out. You now understand that this is the Mother and Father. The Father says: Day by day, I tell you very deep things. Did you know previously who is called the Mother and Father? You now know that only He is called the Father. You receive the inheritance from the Father through Brahma. The Mother is also needed because children have to be adopted. This would not be in anyone’s intellect. So, Baba repeatedly says: Sweetest children, continue to remember the Father! You have received an aim and so you can go anywhere; you can go abroad. Once you have done the seven days’ course, that is enough. You have to claim the inheritance from the Father. It is only by having remembrance that souls will become pure and the masters of heaven. When you have this aim in your intellects, and it then doesn’t matter where you go. All the knowledge of the Gita is in this badge. No one would need to ask: What do we have to do? If you want to claim the inheritance from the Father, you definitely have to remember Him. You have received this inheritance from the Father many times. The cycle of the drama continues to repeat. You study with the Teacher countless times and then attain one status or another. While studying, your intellects remain in yoga with your teacher. Whether the examination is easy or difficult, it is the soul that studies. This one’s soul is also studying. You have to remember your Teacher and also your aim and objective. You also have to keep the world cycle in your intellects. Remember the Father and the inheritance. You also have to imbibe divine virtues. The more you imbibe, the higher the status you will claim. If you continued to have very good remembrance, what need would there be to come here? However, you still come here. He is the highest Father from whom you receive the unlimited inheritance, and so you should at least definitely come and meet Him. Everyone goes back having received a mantra. You receive a very important mantra. You have all the knowledge in your intellects very clearly. You children now understand that you must not waste too much time chasing after a perishable income. All of that will turn to dust. Does the Father want anything? Nothing at all! Whatever expenditure etc. there is, it is for you. However, there isn’t the expense of even a penny in this. He doesn’t have to buy bombs or tanks etc. for war. He doesn’t have anything. While fighting, you are incognito to the rest of the world. Look what your war is like! This is known as the power of yoga. Everything is incognito. There is no need to kill anyone in this. You simply have to remember the Father. The death of all of them is fixed in the drama. Every 5000 years, you study this in order to accumulate the power of yoga. Once the study is completed, you then need the reward in the new world. There are natural calamities for the destruction of the old world. It is remembered how they destroyed their own clan. The clan is so big! The whole of Europe is included in that. This Bharat is in a separate corner. Everything else will be destroyed. You children conquer the whole world with the power of yoga. You also have to become as pure as this Lakshmi and Narayan. There are no criminal eyes there. As you progress further, you will have many visions. When you come close to your country, you can see the trees and so you become happy: We have now come close to our home. You too are now going home and will then go to the land of happiness. There is little time left. It has been such a long time since you said good bye to heaven. Heaven is now coming close. Your intellects go up above. That is the incorporeal world which is also called Brahmand. We are residents of that place. We have played our parts of 84 births here and we are now going home. You children are allrounders. You are those who take the full 84 births from the beginning. Those who come later cannot be called all-rounders. The Father has explained what the maximum number of births is and what the minimum number is. It can be as little as just one birth. At the end, everyone will go back home. The play has ended, the performance is over. The Father now explains: Remember Me and your final thoughts will lead you to your destination. You will then go to the supreme abode, to the Father. That is called the land of liberation, the land of peace and then there is the land of happiness. This is the land of sorrow. Everyone comes down satopradhan from up above and then goes through the stages of sato, rajo and tamo. Even if someone only takes one birth, he will still go through these four stages. The Father sits here and explains to you children so well but, in spite of that, you don’t remember Him! You forget the Father! It is numberwise. You children know that the rosary of Rudra is created, numberwise, according to your efforts. The rosary of Rudra is of so many millions. That is the rosary of the unlimited world. Prajapita Brahma has two surnames: Brahma becomes Vishnu, Vishnu becomes Brahma! Ravan comes after half the cycle. There is deityism and then Islamism. People remember Adam and Bibi and also Paradise. Bharat was Paradise, heaven. You children should have a lot of happiness. The unlimited Father, God, the Highest on High, teaches you the highest-on-high study. You receive the highest-on-high status. The Father is the highest- on-high Teacher. He is the Teacher and He will take you back with Him, so He is also the Satguru. Why would you not remember such a Father? Your mercury of happiness should remain high. However, this is a battlefield. Maya does not allow you to stay here. You repeatedly fall. The Father says: Children, it is only by having remembrance that you will become conquerors of Maya. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Put into practice the things that the Father teaches you. Do not just note them down on paper. Before destruction takes place, from being in a life of bondage attain the status of being liberated in life.
  2. Do not waste too much time chasing after a perishable income because all of that is to turn to dust. Therefore, claim your unlimited inheritance from the unlimited Father and also imbibe divine virtues.
Blessing: May you become an authority on using all your powers at the right time as a master almighty authority.
All the powers that you have received from the Almighty Authority Father will co-operate with you according to the situation, the time and in the form you want to use them. You can imbibe these powers or blessings from God in whichever form you want. One minute, experience them in the form of coolness, the next minute experience them in the form of burning something. Simply, become an authority on using these at the right time. All of these powers are servers of you master almighty authorities.
Slogan: When you have courage in making effort for yourself and for the task of world transformation, success is guaranteed.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 23 SEPTEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 23 September 2019

To Read Murli 22 September 2019:- Click Here
23-09-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – ज्ञान का तीसरा नेत्र सदा खुला रहे तो खुशी में रोमांच खड़े हो जायेंगे, खुशी का पारा सदा चढ़ा रहेगा”
प्रश्नः- इस समय मनुष्यों की नज़र बहुत कमज़ोर है इसलिए उनको समझाने की युक्ति क्या है?
उत्तर:- बाबा कहते उनके लिए तुम ऐसे-ऐसे बड़े चित्र बनाओ जो वह दूर से ही देखकर समझ जाएं। यह गोले का (सृष्टि चक्र का) चित्र तो बहुत बड़ा होना चाहिए। यह है अन्धों के आगे आइना।
प्रश्नः- सारी दुनिया को स्वच्छ बनाने में तुम्हारा मददगार कौन बनता है?
उत्तर:- यह नैचुरल कैलेमिटीज तुम्हारी मददगार बनती है। इस बेहद के दुनिया की सफाई के लिए जरूर कोई मददगार चाहिए।

ओम् शान्ति। गायन भी है बाप से एक सेकण्ड में वर्सा अर्थात् जीवनमुक्ति। और तो सब हैं जीवनबंध में। यह एक ही त्रिमूर्ति और गोले वाला चित्र जो है, बस यही मुख्य है। यह बहुत बड़ा-बड़ा होना चाहिए। अन्धों के लिए तो बड़ा आइना चाहिए, जो अच्छी तरह देख सकें क्योंकि अभी सबकी नज़र कमज़ोर है, बुद्धि कम है। बुद्धि कहा जाता है तीसरे नेत्र को। तुम्हारी बुद्धि में अब खुशी हुई है। खुशी में जिनके रोमांच खड़े नहीं होते हैं, गोया शिवबाबा को याद नहीं करते हैं तो कहेंगे ज्ञान का तीसरा नेत्र थोड़ा खुला है, झुंझार है। बाप समझाते हैं कोई को भी शॉर्ट में समझाना है। बड़े-बड़े मेले आदि लगते हैं, बच्चे जानते हैं सर्विस करने लिए वास्तव में एक चित्र ही बस है। भल गोले का चित्र हो तो भी हर्जा नहीं है। बाप, ड्रामा और झाड़ का अथवा कल्प वृक्ष का और 84 के चक्र का राज़ समझाते हैं। ब्रह्मा द्वारा बाप का यह वर्सा मिलता है। यह भी अच्छी रीति क्लीयर है। इस चित्र में सब आ जाता है और इतने सब चित्रों की दरकार ही नहीं है। यही दो चित्र बहुत बड़े-बड़े अक्षरों के हों। लिखत भी हो। जीवनमुक्ति गॉड फादर का बर्थ राइट है, होवनहार विनाश के पहले। विनाश भी जरूर होना ही है। ड्रामा के प्लैन अनुसार आपेही सब समझ जायेंगे। तुम्हारे समझाने की भी दरकार नहीं रहेगी। बेहद के बाप से बेहद का यह वर्सा मिलता है। यह तो बिल्कुल पक्का याद रहना चाहिए। परन्तु माया तुमसे भुला देती है। समय बीतता जाता है। गायन भी है ना – बहुत गई….. इनका अर्थ इस समय का ही है। बाकी थोड़ा समय ही रहा है। स्थापना तो हो ही रही है, विनाश में थोड़ा समय है। थोड़े में भी थोड़ी रहती जायेगी। विचार किया जाता है फिर क्या होगा? अभी तो जागते नहीं। पीछे जागते जायेंगे। आंखे बड़ी होती जायेंगी। यह आंखे नहीं, बुद्धि की आंख। छोटे-छोटे चित्रों से इतना मजा नहीं आता है। बड़े-बड़े बन जायेंगे। साइंस भी कितनी मदद देती है। विनाश में तत्व भी मदद करते हैं। बिगर कौड़ी खर्चे तुमको कितनी मदद देते हैं। तुम्हारे लिए बिल्कुल सफाया कर देते हैं। यह बिल्कुल छी-छी दुनिया है। अजमेर में स्वर्ग का यादगार है। यहाँ देलवाड़ा मन्दिर में स्थापना का यादगार है, परन्तु कुछ समझ थोड़ेही सकते हैं। अभी तुम समझदार बने हो। भल मनुष्य कहते हैं हम नहीं जानते कि विनाश हो जायेगा, समझ में नहीं आता। एक कहानी है ना – शेर आया, शेर आया। नहीं मानते थे। एक दिन सब गायें खा गया। तुम भी कहते रहते हो यह पुरानी दुनिया गई कि गई। बहुत गयी थोड़ी रही…….।

यह सारी नॉलेज तुम बच्चों की बुद्धि में रहनी चाहिए। आत्मा ही धारणा करती है। बाप की भी आत्मा में ज्ञान है, वह जब शरीर धारण करते हैं तब ज्ञान देते हैं। जरूर उनमें नॉलेज है तब तो नॉलेजफुल गॉड फादर कहा जाता है। वह सारे सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त को जानते हैं। अपने को तो जानते हैं ना। और सृष्टि चक्र कैसे फिरता है वह भी नॉलेज है इसलिए अंग्रेजी में नॉलेजफुल अक्षर बहुत अच्छा है। मनुष्य सृष्टि रूपी झाड़ का बीजरूप है तो उनको सारी नॉलेज है। तुम यह जानते हो नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार। शिवबाबा तो है ही नॉलेजफुल। यह अच्छी रीति बुद्धि में रहना चाहिए। ऐसे नहीं, सबकी बुद्धि में एकरस धारणा होती है। भल लिखते भी हैं परन्तु धारणा कुछ नहीं। नाम मात्र लिखते हैं, बता किसको भी नहीं सकेंगे। सिर्फ कागज़ को बताते हैं। कागज़ क्या करेंगे! कागज़ से तो कोई समझेंगे नहीं। इस चित्र से बहुत अच्छा समझेंगे। बड़े ते बड़ी नॉलेज है तो अक्षर भी बड़े-बड़े होने चाहिए। बड़े ते बड़े चित्र देख मनुष्य समझेंगे इनमें जरूर कुछ सार है। स्थापना और विनाश भी लिखा हुआ है। राजधानी की स्थापना, यह है गॉड फादरली बर्थ राइट। हर एक बच्चे का हक है जीवनमुक्ति। तो बच्चों की बुद्धि चलनी चाहिए कि सब जीवनबन्ध में हैं, इन्हें जीवनबन्ध से जीवनमुक्त में कैसे ले जायें? पहले शान्तिधाम में जायेंगे फिर सुखधाम में। सुखधाम को जीवनमुक्ति कहेंगे। यह चित्र खास बड़े-बड़े बनने चाहिए। मुख्य चित्र हैं ना। बहुत बड़े-बड़े अक्षर हो तो मनुष्य कहेंगे बी.के. ने इतने बड़े चित्र बनाये हैं, जरूर कुछ नॉलेज है। तो जहाँ-तहाँ तुम्हारे भी बड़े-बड़े चित्र लगे हुए हों तो पूछेंगे यह क्या है? बोलो, इतने बड़े चित्र तुम्हारे समझने के लिए बनाये हैं। इसमें क्लीयर लिखा हुआ है, बेहद का वर्सा इन्हों को था। कल की बात है, आज वह नहीं है क्योंकि 84 पुनर्जन्म लेते-लेते नीचे आ गये हैं। सतोप्रधान से तमोप्रधान तो बनना ही है। ज्ञान और भक्ति, पूज्य और पुजारी का खेल है ना। आधा-आधा में बिल्कुल पूरा खेल बना हुआ है। तो ऐसे बड़े-बड़े चित्र बनाने की हिम्मत चाहिए। सर्विस का भी शौक चाहिए। देहली के तो कोने-कोने में सर्विस करनी है। मेले मलाखड़े में तो बहुत लोग जाते हैं वहाँ तुमको यह चित्र ही काम में आयेंगे। त्रिमूर्ति, गोला यह है मुख्य। यह बहुत अच्छी चीज है, अन्धे के आगे जैसे आइना है। अन्धों को पढ़ाया जाता है। पढ़ती तो आत्मा है ना। परन्तु आत्मा के आरगन्स छोटे हैं, तो उनको पढ़ाने के लिए चित्र आदि दिखाये जाते हैं। फिर थोड़े बड़े होते हैं तो दुनिया का नक्शा दिखाते हैं। फिर वह सारा नक्शा बुद्धि में रहता है। अभी तुम्हारी बुद्धि में सारा यह ड्रामा का चक्र है, इतने सब धर्म हैं, कैसे-कैसे नम्बरवार आते हैं, फिर चले जायेंगे। वहाँ तो एक ही आदि सनातन देवी-देवता धर्म है, जिसको स्वर्ग हेविन कहते हैं। बाप के साथ योग लगाने से आत्मा पतित से पावन बन जायेगी। भारत का प्राचीन योग मशहूर है। योग अर्थात् याद। बाप भी कहते हैं मुझ बाप को याद करो। यह कहना पड़ता है। लौकिक बाप को कोई कहना नहीं पड़ता है कि मुझे याद करो। बच्चे आटोमेटिकली बाबा-मम्मा कहते रहते हैं। वह है लौकिक मात-पिता, यह है पारलौकिक, जिसका गायन है – तुम्हरी कृपा ते सुख घनेरे। जिनको दु:ख है, वही गाते हैं। सुख में तो कहने की दरकार ही नहीं रहती। दु:ख में हैं तब पुकारते हैं। अभी तुम समझ गये हो यह मात-पिता है। बाप कहते हैं ना – दिन-प्रतिदिन तुमको गुह्य-गुह्य बातें सुनाता हूँ। आगे मालूम था क्या कि मात-पिता किसको कहा जाता है? अभी तुम जानते हो पिता तो उनको ही कहा जाता है। पिता से वर्सा मिलता है ब्रह्मा द्वारा। माता भी चाहिए ना क्योंकि बच्चों को एडाप्ट करना है। यह बात किसके भी ध्यान में नहीं आयेगी। तो बाबा घड़ी-घड़ी कहते हैं – मीठे-मीठे बच्चों, बाप को याद करते रहो। लक्ष्य मिल गया फिर भल कहाँ भी जाओ। विलायत में जाओ, 7 रोज़ कोर्स किया तो बहुत है। बाप से तो वर्सा लेना ही है। याद से ही आत्मा पावन बनेगी। स्वर्ग का मालिक बनेंगे। यह लक्ष्य तो बुद्धि में है फिर भल कहाँ भी जायें। सारा ज्ञान गीता का इस बैज में है। कोई को पूछने की भी दरकार नहीं रहेगी कि क्या करना है। बाप से वर्सा लेना है तो जरूर बाप को याद करना है। तुमने यह वर्सा बाप से अनेक बार लिया है। ड्रामा का चक्र रिपीट होता रहता है ना। अनेक बार तुम टीचर से पढ़ करके कोई न कोई पद प्राप्त करते हो। पढ़ाई में बुद्धियोग टीचर के साथ रहता है ना। इम्तहान चाहे छोटा हो, चाहे बड़ा हो, पढ़ती तो आत्मा है ना। इनकी भी आत्मा पढ़ती है। टीचर को और फिर एम ऑबजेक्ट को याद करना है। सृष्टि का चक्र भी बुद्धि में रखना है। बाप और वर्से को याद करना है। दैवीगुण भी धारण करने हैं। जितना धारणा करेंगे उतना ऊंच पद पायेंगे। अच्छी रीति याद करते रहते हैं फिर यहाँ आने की भी क्या दरकार है। परन्तु फिर भी आते हैं। ऐसा ऊंच बाप, जिससे इतना बेहद का वर्सा मिलता है, उनसे मिलकर तो आवें। मंत्र लेकर सब आते हैं। तुमको तो बहुत भारी मंत्र मिलता है। नॉलेज तो सारी अच्छी रीति बुद्धि में है।

अभी तुम बच्चे समझते हो कि विनाशी कमाई के पीछे जास्ती टाइम वेस्ट नहीं करना है। वह तो सब मिट्टी में मिल जायेगा। बाप को कुछ चाहिए क्या? कुछ भी नहीं। कुछ भी खर्चा आदि करते हैं सो तो अपने लिए ही करते हैं। इसमें पाई का भी खर्चा नहीं है। कोई गोले वा टैंक आदि तो खरीद नहीं करने हैं लड़ाई के लिए। कुछ भी नहीं है। तुम लड़ते हुए भी सारी दुनिया से गुप्त हो। तुम्हारी लड़ाई देखो कैसी है। इसको कहा जाता है योगबल, सारी गुप्त बात है। इसमें कोई को मारने की दरकार नहीं है। तुमको सिर्फ बाप को याद करना है। इन सबका मौत ड्रामा में नूँधा हुआ है। हर 5 हज़ार वर्ष बाद तुम योगबल जमा करने के लिए पढ़ाई पढ़ते हो। पढ़ाई पूरी हुई फिर प्रालब्ध चाहिए नई दुनिया में। पुरानी दुनिया के लिए यह नैचुरल कैलेमिटीज़ है। गायन भी है ना – अपने कुल का विनाश कैसे करते हैं। कितना बड़ा कुल है। सारा यूरोप आ जाता है। यह भारत तो अलग कोने में है। बाकी सब खलास हो जाने हैं। योगबल से तुम सारे विश्व पर विजय पाते हो, पवित्र भी बनना है इन लक्ष्मी-नारायण जैसा। वहाँ क्रिमिनल आई ही नहीं। आगे चलकर तुमको बहुत साक्षात्कार होंगे। अपने देश के नज़दीक आने से फिर झाड़ दिखाई पड़ते हैं ना। तो खुशी होती है – अब आकर पहुँचे हैं अपने घर के नज़दीक। तुम भी घर चल पड़े हो फिर अपने सुखधाम आयेंगे। बाकी थोड़ा समय है, स्वर्ग से विदाई लिए कितना समय हो गया है। अब फिर स्वर्ग नज़दीक आ रहा है। तुम्हारी बुद्धि चली जाती है ऊपर। वह है निराकारी दुनिया, जिसको ब्रह्माण्ड भी कहते हैं। हम वहाँ के रहने वाले हैं। यहाँ 84 का पार्ट बजाया। अभी हम जाते हैं। तुम बच्चे हो आलराउण्ड, शुरू से लेकर पूरे 84 जन्म लेने वाले हो। देरी से आने वाले को आलराउन्डर नहीं कहेंगे। बाप ने समझाया है – मैक्सीमम और मिनीमम कितने जन्म लेते हो? एक जन्म तक भी है। पिछाड़ी में सब चले जायेंगे वापिस। नाटक पूरा हुआ, खेल खलास। अब बाप समझाते हैं – मुझे याद करो, अन्त मती सो गति हो जायेगी। बाप के पास परमधाम में चले जायेंगे। उनको कहते हैं मुक्तिधाम, शान्तिधाम और फिर सुखधाम। यह है दु:खधाम। ऊपर से हर एक सतोप्रधान फिर सतो, रजो, तमो में आते हैं। एक जन्म होगा तो उसमें भी इन 4 स्टेजेस को पायेंगे। कितना अच्छा बच्चों को बैठ समझाते हैं, फिर भी याद नहीं करते। बाप को भूल जाते है, नम्बरवार तो हैं ना। बच्चे जानते हैं नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार रूद्र माला बनती है। कितने करोड़ की रूद्र माला है। बेहद के विश्व की यह माला है। ब्रह्मा सो विष्णु, विष्णु सो ब्रह्मा, दोनों का सरनेम देखो, यह प्रजापिता ब्रह्मा का नाम है। आधाकल्प फिर आता है रावण। डिटीज्म, फिर इस्लामिज्म…….। आदम-बीबी को भी याद करते हैं, पैराडाइज़ को भी याद करते हैं। भारत पैराडाइज़ स्वर्ग था, बच्चों को खुशी तो बहुत होनी चाहिए। बेहद का बाप, ऊंचे ते ऊंच भगवान्, ऊंचे ते ऊंच पढ़ाते हैं। ऊंच ते ऊंच पद मिलता है। सबसे ऊंच ते ऊंच टीचर है बाप। वह टीचर भी है फिर साथ ले जायेंगे तो सतगुरू भी है। ऐसा बाप क्यों नहीं याद रहेगा। खुशी का पारा चढ़ा रहना चाहिए। परन्तु युद्ध का मैदान है, माया ठहरने नहीं देती है। घड़ी-घड़ी गिर पड़ते हैं। बाप तो कहते हैं – बच्चे, याद से ही तुम मायाजीत बनेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप जो सिखलाते हैं उसे अमल में लाना है, सिर्फ कागज़ पर नोट नहीं करना है। विनाश के पहले जीवनबन्ध से जीवनमुक्त पद प्राप्त करना है।

2) अपना टाइम विनाशी कमाई के पीछे अधिक वेस्ट नहीं करना है क्योंकि यह तो सब मिट्टी में मिल जाना है इसलिए बेहद के बाप से बेहद का वर्सा लेना है और दैवीगुण भी धारण करने हैं।

वरदान:- अथॉरिटी बन समय पर सर्वशक्तियों को कार्य में लगाने वाले मास्टर सर्वशक्तिवान भव
सर्वशक्तिवान बाप द्वारा जो सर्वशक्तियां प्राप्त हैं वह जैसी परिस्थिति, जैसा समय और जिस विधि से आप कार्य में लगाने चाहो वैसे ही रूप से यह शक्तियां आपके सहयोगी बन सकती हैं। इन शक्तियों को वा प्रभु-वरदान को जिस रूप में चाहो वह रूप धारण कर सकती हैं। अभी-अभी शीतलता के रूप में, अभी-अभी जलाने के रूप में। सिर्फ समय पर कार्य में लगाने की अथॉरिटी बनो। यह सर्वशक्तियां तो आप मास्टर सर्वशक्तिवान की सेवाधारी हैं।
स्लोगन:- स्व पुरुषार्थ वा विश्व कल्याण के कार्य में जहाँ हिम्मत है वहाँ सफलता हुई पड़ी है।

TODAY MURLI 23 SEPTEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 23 September 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 22 September 2018 :- Click Here

23/09/18
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
18/01/84

T he importance of the 18th January, the Day of Remembrance.

Today, the Father of Madhuban has come to meet the children in Madhuban.

  • Today, from amrit vela, the loving songs of the loving children, the songs of the equal children who were celebrating a meeting, the sounds filled with zeal and enthusiasm of the children who are in contact, the love-filled sweet complaints of the children in bondage and the flowers of love of many children reached BapDada. All the elevated promises of powerful thoughts made by the children in this land and abroad came very close to BapDada. BapDada is responding to all the children’s thoughts of love and powerful thoughts: May you always be loving to BapDada! May you always be powerful and equal! May you always be close with zeal and enthusiasm! May you be souls who are liberated and free from bondage with the fire of love! The children’s days of becoming free from bondage are now almost here. The sound of love from the children’s hearts will definitely awaken the Kumbhakarna souls. Those same souls who create bondages will themselves be tied by the bond of God’s love. BapDada is giving special reassurance to the hearts of the daughters who are in bondage that their auspicious days are now coming.
  • On this special day, the special pearls of love reached BapDada. These pearls of love make you into elevated diamonds.
  • Today is the day of power.
  • Today is the day for the children who are equal to receive the blessing, “The same applies to you!” (Tat twam).
  • Today, BapDada wills all powers to the Shakti Army. He gives you will power. He gives you the power of the will.
  • Today is the day when he became the Father’s backbone to bring the children in the forefront on the field of the world. The father is unknown and the children are well known.
  • Today is the day that Father Brahma became karmateet.
  • It is the day for the task of world benefit and for touring around the world with your mind to begin at a fast speed.
  • Today is the day for BapDada to be revealed through the mirror of the children.
  • Today is the day to introduce the World Father to the children of the world.
  • Today is the day to inspire all of you children to make your stage like a tower of knowledge and a tower of power, that is, to make it as unshakeable and immovable as a tower. Every child is a tower of peace like the father’s memorial. That is just a physical Tower of Peace that has been created. However, all of you children in the living form who stay in remembrance of the Father are towers of remembrance. BapDada circles around all of you children who are living towers. Just as on this day you go and stand at the Tower of Peace, so BapDada stands in front of all of you towers who stay in remembrance.
  • On this day, you especially go to the Father’s room. BapDada also speaks to the children about the things of their hearts in the room of their hearts.
  • You also go to Baba’s hut. The hut is the memorial of the lover and the Beloved. The beloved Father especially celebrates a meeting with the children who are the lovers. Therefore, BapDada also continues to hear all the different music of the children who are lovers. Some are playing music with the rhythm of love (sneh), some with the rhythm of power, some with bliss and some with love (prem)… BapDada continues to hear the music of different rhythms. BapDada also continues to tour around with all of you. So, did you understand the special importance of today?
  • Today is not just the day of remembrance, but it is the day of remembrance and, through that, of power.
  • Today is not the day of separation or disinterest, but it is the coronation day of the responsibility of service.
  • It is the day of receiving the tilak of the awareness of power.
  • It is the day of the thought, “The children are at the front and the father is at the back”, becoming the practical form.
  • Today, Father Brahma is especially happy to see the double-foreign loving children who are the physical manifestation of the Father’s thought and his invocation of them, and how you have arrived in front of the Father with love. You are the practical fruit of Father Brahma’s invocation of you. Seeing such elevated fruit filled with the sweetness (juice) of all powers, Father Brahma is especially congratulating you children and giving you blessings. Constantly continue to progress in an easy manner. Just as children sing, “It is the Father’s wonder”, at every step, so BapDada also says, “It is the wonder of the children.” You are residents of faraway lands, and religions are distant and yet you have come so close. Those who live close by in Abu have become distant. Those who live on the shores of the Ocean are left thirsty whereas the double-foreign children have become the Ganges of knowledge who quench the thirst of others. It is a wonder of the children. Therefore, BapDada is always pleased with the children who have such fortune of happiness. All of you are doubly happy, are you not? Achcha.

To those who have the elevated thought of constantly being equal, to those who maintain their will power with the will of all powers, to those who become lovers of the Beloved and play different tunes, to those who remain as constantly unshakeable and immovable as a tower, to those who constantly make progress in an easy manner and make everything grow, to those who constantly celebrate a sweet meeting, to all the variety children in this land and abroad, along with a shower of flowers, BapDada’s love, remembrance and namaste.

Today, all the loving, special, serviceable children were called to the subtle region. Jagadamba and Didi were also called. Vishwa Kishore and all the specially beloved children who have gone for service were all called to the subtle region, especially to celebrate the day of remembrance. All the specially beloved children who are instruments for double service, are companions in God’s service at the confluence age and are also companions in the service of enabling you to receive the future kingdom. Therefore, they are double servers, are they not? Such double serviceable children have given special love and remembrance to all you loving and co-operative souls who have come to Madhuban. Today, BapDada is giving a message of love and remembrance on their behalf. Do you understand?

Some of you remember one person and others remember another. All the advance effort-making children who are instruments for service with the Father, whom you have been remembering in your thoughts, have given all of you love and remembrance in return for your remembrance of them. Pushpa Shanta was also remembering you with love. How many such names can Baba mention? There was a special party for everyone in the subtle region. Didi gave special remembrance to the double-foreigners. Many of you remembered Didi especially today, did you not? Because all of you (double foreigners) only saw Didi. You didn’t see Jagadamba or Bhau (Vishwa Kishore). This is why you all remembered Didi especially. In her final moments, she was completely free from any waste thoughts and also free from attachment. She remembers you too – but that is not remembrance that pulls you. She is a liberated soul. Their gathering is also becoming powerful. They are all very well known. Achcha.

Some foreign brothers and sisters tak e leave from BapDada to go on service:

BapDada tells all of you children that you are not going, but that you are going to go and serve and come back again and bring a bouquet in front of the Father. This is why you are not going home but are going on service. Always remember that that is not your home but your service place. You are children of the merciful Father. Therefore, also bring benefit to unhappy souls. You are not able to sleep peacefully without doing service. You also have dreams of service, do you not? As soon as you open your eyes, you meet Baba and, throughout the day, you only think of the Father and service. Look, BapDada is so proud that it isn’t just one child who is serviceable, but all of you children are serviceable. Every child is a world benefactor. We shall now see who brings a big bouquet. So, are you going? Or, are you going to come back again? So, whose love is greater – the Father’s or yours? If the children’s love is greater, then the children are safe. Great donors, bestowers of blessings, complete and perfect souls are going. You now have to make many souls wealthy, decorate them and bring them in front of the Father. You are not going, but you will do service and come back having multiplied the number three times. No matter how far away you go physically, you souls are always with the Father. BapDada always gives co-operative children His company. Co-operative children always receive co-operation. Achcha.

Questions by double-foreigners to BapDada and His answers .

Question: Some Brahmin souls are influenced by evil souls. What should we do at that time?

Answer: In this situation, the atmosphere of the centre has to remain very powerful at all times. Along with this, your own stage must also be powerful. The evil spirits won’t then be able to do anything. They catch hold of the mind. Because the power of the mind is weak, those evil spirits influence the soul. So, from the beginning, yogyukt souls need to have special yoga bhatthis and give that (influenced soul) power. A group of yogyukt souls should also understand that they have to perform this special task. Just as you do other programmes, in the same way, you also have to do this programme with as much attention so that, when that soul receives power from the beginning, he can be saved. That soul may not be able to sit in yoga because of being under the influence of someone else. It doesn’t matter if that soul doesn’t sit in yoga, but you must continue to carry on with your task with faith in your intellect. Then, gradually, the mischief of that soul will continue to calm down. That evil soul will first try to attack you, but you must realise that you have to carry out this task. Don’t be afraid and the influence of that evil soul will slowly be removed.

Question: What should we do when souls over whom there is the influence of other souls come to the centre to listen to the knowledge?

Answer: If, by listening to the knowledge, there is some difference in that soul or if that soul experiences something for even a second, then you should put enthusiasm into that soul. Sometimes, souls come to you because of not finding their place; you have to discern whether that soul has come to change or has just found any place in his disturbed state. This is because, sometimes, souls are so disturbed that whenever they see an open door, they will just go in. They are not fully aware. So, many souls like that will come, but you have to discern them first. Otherwise, time would be wasted on them. Sometimes, someone will come with a good aim but is under another influence; it is then your duty to give that one power. However, do not attend to such souls alone by yourself. Kumaris must not attend to such souls by themselves because when such souls see a kumari alone, they become even more disturbed. Therefore, if you feel that such souls are worthy, give them a time to come when there are two or three others present, or when a responsible or mature person is around. Call such souls at such a time and sit with them because the world is very dirty at present and people have very bad thoughts. Therefore, it is essential to pay some attention. A very clear intellect is needed for this. If you have a clear intellect, you will be able to catch from their vibrations what aim they have come with.

Question: Nowadays, the atmosphere in some places is very much one of stealing and of fear, so how can we protect ourselves from this?

Answer: A lot of yoga power is needed for this. For instance, when someone comes to you with the thought of frightening you, at that time, give that one the power of yoga. If you say anything at that time, it will cause damage and so, just give the power of silence. If you say anything at that time, it will be like pouring oil on to a fire. Just be nonchalant, as though you are not bothered. Just be a detached observer and give the power of silence to the one misbehaving and he will not use his hands (become violent). He will think that you are not bothered. Otherwise, he would try to frighten you. If you get frightened or shake, he would cause more upheaval. Fear gives them more courage and so do not be afraid. At such a timeuse the stage of a detached observer. At that time, you need to use what you have practised.

Question: In what way are the blessings we receive from BapDada misused?

Answer: Sometimes, BapDada calls some children serviceable or specially beloved children, or He gives a special title, and so children misuse that title. They think that they have become that already. I am already like that. Considering themselves to be that, they stop making effort. That is known as misusing, that is, not using something properly, because to use the blessing for the self and for service in the way that BapDada has given it to you is the proper way to use it. To become careless is to misuse it.

Question: It is shown in the Bible that, in the final moments, there will be the form of anti-Christ. What does this mean?

Answer: Anti-Christ means reducing the impact of that religion. Nowadays, if you look at the Christi a n religion, the value of the Christian religion is considered to be less. Those of that religion do not consider themselves to be so powerful and they experience greater power in others. Those are the ones who are anti-Christ. Nowadays, many priests do not give that importance to celibacy and they have begun to inspire the priests to become householders, so it is as though people of that religion have become anti-Christ. Achcha.

Blessing: May you be a master bestower of fortune and, by becoming a right hand of the Father, be constantly ever ready for every task.
The children who become the Father’s right hand s are also constantly co-operative and ever ready for every task, they are obedient and say, “Yes Baba, I am ready”. The Father calls such children; His constantly especially beloved children, His worthy and obedient children, His children who are the decoration of the world and He gives them the blessing of being master bestowers of blessings and bestowers of fortune. While living at home, such children stay beyond any householder attitude and they always pay attention to keeping their interaction alokik while interacting with everyone.
Slogan: Let there be honesty and cleanliness in your every word and deed, and you will become a jewel loved by God.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 23 SEPTEMBER 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 23 September 2018

To Read Murli 22 September 2018 :- Click Here
23-09-18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 18-01-84 मधुबन

स्मृति दिवस का महत्व

आज मधुबन वाले बाप मधुबन में बच्चों से मिलने आये हैं। आज अमृतवेले से स्नेही बच्चों के स्नेह के गीत, समान बच्चों के मिलन मनाने के गीत, सम्पर्क में रहने वाले बच्चों के उमंग में आने के उत्साह भरे आवाज, बांधेली बच्चियों के स्नेह भरे मीठे उल्हनें, कई बच्चों के स्नेह के पुष्प बापदादा के पास पहुँचे। देश-विदेश के बच्चों के समर्थ संकल्पों की श्रेष्ठ प्रतिज्ञायें सभी बापदादा के पास समीप से पहुँची। बापदादा सभी बच्चों के स्नेह के संकल्प और समर्थ संकल्पों का रेसपान्ड कर रहे हैं। ”सदा बापदादा के स्नेही भव”। ”सदा समर्थ समान भव, सदा उमंग-उत्साह से समीप भव, लगन की अग्नि द्वारा बन्धनमुक्त स्वतंत्र आत्मा भव”। बच्चों के बन्धनमुक्त होने के दिन आये कि आये। बच्चों के स्नेह के दिल के आवाज, कुम्भकरण आत्माओं को अवश्य जगायेंगे। यही बन्धन में डालने वाले स्वयं प्रभु स्नेह के बन्धन में बंध जायेंगे। बापदादा विशेष बन्धन वाली बच्चियों को शुभ दिन आने की दिल का आथत दे रहे हैं क्योंकि आज के विशेष दिन पर विशेष स्नेह के मोती बापदादा के पास पहुँचते हैं। यही स्नेह के मोती श्रेष्ठ हीरा बना देते हैं। आज का दिन समर्थ दिन है। आज का दिन समान बच्चों को ततत्वम् के वरदान का दिन है। आज के दिन बापदादा शक्ति सेना को सर्व शक्तियों की विल करता है, विल पावर देते हैं। विल की पावर देते हैं। आज का दिन बाप का बैक-बोन बन बच्चों को विश्व के मैदान में आगे रखने का दिन है। बाप अन-नोन है और बच्चे वेलनोन हैं। आज का दिन ब्रह्मा बाप के कर्मातीत होने का दिन है। तीव्रगति से विश्व कल्याण, विश्व परिक्रमा का कार्य आरम्भ होने का दिन है। आज का दिन बच्चों के दर्पण द्वारा बापदादा के प्रख्यात होने का दिन है। जगत के बच्चों को जगत पिता का परिचय देने का दिन है। सर्व बच्चों को अपनी स्थिति, ज्ञान स्तम्भ, शक्ति स्तम्भ अर्थात् स्तम्भ के समान अचल अडोल बनने की प्रेरणा देने का दिन है। हर बच्चा बाप का यादगार शान्ति स्तम्भ है। यह तो स्थूल शान्ति स्तम्भ बनाया है। परन्तु बाप की याद में रहने वाले याद का स्तम्भ आप चैतन्य सभी बच्चे हो। बापदादा सभी चैतन्य स्तम्भ बच्चों की परिक्रमा लगाते हैं। जैसे आज शान्ति स्तम्भ पर खड़े होते हो, बापदादा आप सभी याद में रहने वाले स्तम्भों के आगे खड़े होते हैं। आप आज के दिन विशेष बाप के कमरे में जाते हो। बापदादा भी हर बच्चे के दिल के कमरे में बच्चों से दिल की बातें करते हैं और आप झोपड़ी में जाते हो। झोपड़ी है दिलवर और दिलरूबा की यादगार। दिलरूबा बच्चों से दिलवर बाप विशेष मिलन मनाते हैं। तो बापदादा भी सभी दिलरूबा बच्चों के भिन्न-भिन्न साज़ सुनते रहते हैं। कोई स्नेह की ताल से साज़ बजाते, कोई शक्ति की ताल से, कोई आनन्द, कोई प्रेम की ताल से। भिन्न-भिन्न ताल के साज़ सुनते रहते हैं। बापदादा भी आप सभी के साथ-साथ चक्र लगाते रहते हैं। तो आज के दिन का विशेष महत्व समझा!

आज का दिन सिर्फ स्मृति का दिन नहीं लेकिन स्मृति सो समर्थी दिवस है। आज का दिन वियोग वा वैराग्य का दिन नहीं है लेकिन सेवा की जिम्मेवारी के ताजपोशी का दिन है। समर्थी के स्मृति के तिलक का दिन है। ”आगे बच्चे पीछे बाप” इसी संकल्प को साकार होने का दिन है। आज के दिन ब्रह्मा बाप विशेष डबल विदेशी बच्चों को बाप के संकल्प और आह्वान को साकार रूप देने वाले स्नेही बच्चों को देख हर्षित हो रहे हैं। कैसे स्नेह द्वारा बाप के सम्मुख पहुँच गये हैं। ब्रह्मा बाप के आह्वान के प्रत्यक्ष फल स्वरूप, ऐसे सर्व शक्तियों के रस भरे श्रेष्ठ फलों को देख ब्रह्मा बाप बच्चों को विशेष बधाई और वरदान दे रहे हैं। सदा सहज विधि द्वारा वृद्धि को पाते रहो। जैसे बच्चे हर कदम में ”बाप की कमाल है” यही गीत गाते हैं, ऐसे बापदादा भी यही कहते हैं कि बच्चों की कमाल है। दूरदेशी, दूर के धर्म वाले होते भी कितने समीप हो गये हैं। समीप आबू में रहने वाले दूर हो गये हैं। सागर के तट पर रहने वाले प्यासे रह गये हैं लेकिन डबल विदेशी बच्चे औरों की भी प्यास बुझाने वाले ज्ञान गंगायें बन गये। कमाल है ना बच्चों की इसलिए ऐसे खुशनशीब बच्चों पर बापदादा सदा खुश हैं। आप सभी भी डबल खुश हो ना। अच्छा-

ऐसे सदा समान बनने के श्रेष्ठ संकल्पधारी, सर्व शक्तियों के विल द्वारा विल पावर में रहने वाले, सदा दिलवर की दिलरूबा बन भिन्न-भिन्न साज़ सुनाने वाले सदा स्तम्भ के समान अचल-अडोल रहने वाले, सदा सहज विधि द्वारा वृद्धि को पाए वृद्धि को प्राप्त कराने वाले, सदा मुधर मिलन मनाने वाले देश-विदेश के सर्व प्रकार के वैरायटी बच्चों को पुष्प वर्षा सहित बापदादा का याद-प्यार और नमस्ते।

आज सभी स्नेही विशेष सेवाधारी बच्चों को वतन में बुलाया था। जगत अम्बा को भी बुलाया, दीदी को भी बुलाया। विश्व किशोर आदि जो भी अनन्य गये हैं सेवा अर्थ, उन सबको वतन में बुलाया था। विशेष स्मृति दिवस मनाने के लिए सभी अनन्य डबल सेवा के निमित्त बने हुए बच्चे संगम के ईश्वरीय सेवा में भी साथी हैं और भविष्य राज्य दिलाने की सेवा के भी साथी हैं। तो डबल सेवाधारी हो गये ना। ऐसे डबल सेवाधारी बच्चों ने विशेष रूप से सभी मधुबन में आये हुए सहयोगी स्नेही आत्माओं को यादप्यार दी है। आज बापदादा उन्हों की तरफ से याद-प्यार का सन्देश दे रहे हैं। समझा। कोई किसको याद करते, कोई किसको याद करते। बाप के साथ-साथ सेवार्थ एडवांस पुरुषार्थी बच्चों को जिन्होंने भी संकल्प में याद किया उन सभी की याद का रिटर्न सभी ने यादप्यार दिया है। पुष्पशान्ता भी स्नेह से याद करती थी। ऐसे तो नाम कितने का लेंवे। सभी की विशेष पार्टी वतन में थी। डबल विदेशियों के लिए विशेष दीदी ने याद दी है। आज दीदी को विशेष बहुतों ने याद किया ना क्योंकि इन्होंने दीदी को ही देखा है। जगत अम्बा और भाऊ (विश्व किशोर) को तो देखा नहीं इसलिए दीदी की याद विशेष आई। वह लास्ट टाइम बिल्कुल निरसंकल्प और निर्मोही थी। उनको भी याद तो आती है लेकिन वह खींच की याद नहीं है। स्वतंत्र आत्मा है। उन्हों का भी संगठन शक्तिशाली बन रहा है। सब नामीग्रामी है ना। अच्छा-

कुछ विदेशी भाई-बहन सेवा पर जाने के लिए बापदादा से छुट्टी ले रहे हैं:

सभी बच्चों को बापदादा यही कहते हैं कि जा नहीं रहे हो लेकिन फिर से आने के लिए, फिर से बाप के आगे सेवा कर गुलदस्ता लाने के लिए जा रहे हो इसलिए घर नहीं जा रहे हो, सेवा पर जा रहे हो। घर नहीं सेवा का स्थान है, यही सदा याद रहे। रहमदिल बाप के बच्चे हो तो दु:खी आत्माओं का भी कल्याण करो। सेवा के बिना चैन से सो नहीं सकते। स्वप्न भी सेवा के आते हैं ना। आंख खुली बाबा से मिले फिर सारा दिन बाप और सेवा। देखो, बापदादा को कितना नाज़ है कि एक बच्चा सर्विसएबुल नहीं लेकिन इतने सब सर्विसएबुल हैं। एक-एक बच्चा विश्व कल्याणकारी है। अभी देखेंगे कौन बड़ा गुलदस्ता लाता है। तो जा रहे हैं या फिर से आ रहे हैं! तो ज्यादा स्नेह किसका हुआ? बाप का या आपका? अगर बच्चों का स्नेह ज्यादा रहे तो बच्चे सेफ हैं। महादानी, वरदानी, सम्पन्न आत्मायें जा रहे हैं, अभी अनेक आत्माओं को धनवान बनाकर, सजाकर बाप के सामने ले आना। जा नहीं रहे हो लेकिन सेवा कर एक से तीन गुना होकर आयेंगे। शरीर से भल कितना भी दूर जा रहे हो लेकिन आत्मा सदा बाप के साथ है। बापदादा सहयोगी बच्चों को सदा ही साथ देखते हैं। सहयोगी बच्चों को सदा ही सहयोग प्राप्त होता है। अच्छा।

डबल विदेशी भाई बहिनों के प्रश्न-बापदादा के उत्तर

प्रश्न:- कई ब्राह्मण आत्माओं पर भी ईविल सोल्स का प्रभाव पड़ जाता है, उस समय क्या करना चाहिए?

उत्तर:- इसके लिए सेवाकेन्द्र का वातावरण बहुत शक्तिशाली सदा रहना चाहिए और साथ में अपना भी वातावरण शक्तिशाली रहे। फिर यह ईविल प्रिट कुछ नहीं कर सकती है। यह मन को पकड़ती हैं। मन की शक्ति कमजोर होने के कारण ही इसका प्रभाव पड़ जाता है। तो शुरू से पहले ही उसके प्रति ऐसे योगयुक्त आत्मायें विशेष योग भट्ठी रख करके उसको शक्ति दें और वह जो योगयुक्त ग्रुप है वह समझे कि हमको यह विशेष कार्य करना है, जैसे और प्रोग्राम होते हैं वैसे यह प्रोग्राम इतना अटेन्शन से करें तो फिर शुरू में उस आत्मा को ताकत मिलने से बच सकती हैं। भले वह आत्मा परवश होने के कारण योग में नहीं भी बैठ सके, क्योंकि उसके ऊपर दूसरे का प्रभाव होता है, तो वह भले ही न बैठे लेकिन आप अपना कार्य निश्चय बुद्धि हो करके करते रहो। तो धीरे-धीरे उसकी चंचलता शान्त होती जायेगी। वह ईविल आत्मा पहले आप लोगों के ऊपर भी वार करने की कोशिश करेगी लेकिन आप समझो यह कार्य करना ही है, डरो नहीं तो धीरे-धीरे उसका प्रभाव हट जायेगा।

प्रश्न:- सेवाकेन्द्र पर अगर कोई प्रवेशता वाली आत्मायें ज्ञान सुनने के लिए आती हैं तो क्या करना चाहिए?

उत्तर:- अगर ज्ञान सुनने से उसमें थोड़ा-सा भी अन्तर आता है या सेकण्ड के लिए भी अनुभव करती है तो उसको उल्लास में लाना चाहिए। कई बार आत्मायें थोड़ा-सा ठिकाना ना मिलने के कारण भी आपके पास आती हैं, बदलने के लिए आया है या वैसे ही पागलपन में जहाँ रास्ता मिला, आ गया है वह परखना चाहिए क्योंकि कई बार ऐसे पागल होते हैं जो जहाँ भी देखेंगे दरवाजा खुला है वहाँ जायेंगे। होश में नहीं होते हैं। तो ऐसे कई आयेंगे लेकिन उसको पहले परखना है। नहीं तो उसमें टाइम वेस्ट हो जायेगा। बाकी कोई अच्छे लक्ष्य से आया है, परवश है तो उसको शक्ति देना अपना काम है। लेकिन ऐसी आत्माओं को कभी भी अकेले में अटेण्ड नहीं करना। कुमारी कोई ऐसी आत्मा को अकेले में अटेण्ड न करें क्योंकि कुमारी को अकेला देख पागल का पागलपन और निकलता है इसलिए ऐसी आत्मायें अगर समझते हो योग्य हैं, तो उन्हें ऐसा टाइम दो जिस टाइम दो-तीन और हों या कोई जिम्मेवार, कोई बुजुर्ग ऐसा हो तो उस समय उसको बुलाकर बिठाना चाहिए क्योंकि जमाना बहुत गन्दा है और बहुत बुरे संकल्प वाले लोग हैं इसलिए थोड़ा अटेन्शन रखना भी जरूरी है। इसमें बहुत क्लियर बुद्धि चाहिए। क्लियर बुद्धि होगी तो हरेक के वायब्रेशन से कैच कर सकेंगे कि यह किस एम से आया है।

प्रश्न:- आजकल किसी-किसी स्थान पर चोरी और भय का वातावरण बहुत है, उनसे कैसे बचे?

उत्तर:- इसमें योग की शक्ति बहुत चाहिए। मान लो कोई आपको डराने के ख्याल से आता है तो उस समय योग की शक्ति दो। अगर थोड़ा कुछ बोलेंगी तो नुकसान हो जायेगा इसलिए ऐसे समय पर शान्ति की शक्ति दो। उस समय पर अगर थोड़ा भी कुछ कहा तो उन्हों में जैसे अग्नि में तेल डाला। आप ऐसे रीति से रहो जैसे बेपरवाह हैं, हमको कोई परवाह नहीं है। जो करता है उसको साक्षी होकर अन्दर शान्ति की शक्ति दो तो फिर उसके हाथ नहीं चलेंगे। वह समझेंगे इनको तो कोई परवाह नहीं है। नहीं तो डराते हैं, डर गये या हलचल में आये तो वह और ही हलचल में लाते हैं। भय भी उन्हों को हिम्मत दिलाता है इसलिए भय में नहीं आना चाहिए। ऐसे टाइम पर साक्षीदृष्टा की स्थिति यूज़ करनी है। अभ्यास चाहिए ऐसे टाइम।

प्रश्न:- ब्लैसिंग जो बापदादा द्वारा मिलती है, उसका गलत प्रयोग क्या है?

उत्तर:- कभी-कभी जैसे बापदादा बच्चों को सर्विसएबल या अनन्य कहते हैं या को0ई विशेष टाइटल देते हैं तो उस टाइटल को मिसयूज कर लेते हैं, समझते हैं मैं तो ऐसा बन ही गया। मैं तो हूँ ही ऐसा। ऐसा समझकर अपना आगे का पुरुषार्थ छोड़ देते हैं, इसको कहते हैं मिसयूज़ अर्थात् गलत प्रयोग क्योंकि बापदादा जो वरदान देते हैं, उस वरदान को स्वयं के प्रति और सेवा के प्रति लगाना, यह है सही रीति से यूज़ करना और अलबेला बन जाना, यह है मिसयूज़ करना।

प्रश्न:- बाइबिल में दिखाते हैं, अन्तिम समय में एन्टी क्राइस्ट का रूप होगा, इसका रहस्य क्या है?

उत्तर:- एन्टी क्राइस्ट का अर्थ है उस धर्म के प्रभाव को कम करने वाले। आजकल देखो उसी क्रिश्चियन धर्म में क्रिश्चियन धर्म की वैल्यू को कम समझते जा रहे हैं, उसी धर्म वाले अपने धर्म को इतना शक्तिशाली नहीं समझते और दूसरों में शक्ति ज्यादा अनुभव करते हैं, यही एन्टी क्राइस्ट हो गये। जैसे आजकल के कई पादरी ब्रह्मचर्य को महत्व नहीं देते और उन्हों को गृहस्थी बनाने की प्रेरणा देने शुरू कर दी है तो यह उसी धर्म वाले जैसे एन्टी क्राइस्ट हुए। अच्छा!

वरदान:- बाप के राइट हैण्ड बन हर कार्य में सदा एवररेडी रहने वाले मास्टर भाग्य विधाता भव 
जो बच्चे राइट हैण्ड बन बाप के हर कार्य में सदा सहयोगी, सदा एवररेडी रहते हैं, आज्ञाकारी बन सदा कहते हाँ बाबा हम तैयार हैं। बाप भी ऐसे सहयोगी बच्चों को सदा मुरब्बी बच्चे, सपूत बच्चे, विश्व के श्रृंगार बच्चे कह मास्टर वरदाता और भाग्य विधाता का वरदान दे देते हैं। ऐसे बच्चे प्रवृत्ति में रहते भी प्रवृत्ति की वृत्ति से परे रहते हैं, व्यवहार में रहते अलौकिक व्यवहार का सदा ध्यान रखते हैं।
स्लोगन:- हर बोल और कर्म में सच्चाई सफाई हो तो प्रभू के प्रिय रत्न बन जायेंगे।
Font Resize