23 may ki murli

TODAY MURLI 23 MAY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 23 May 2020

23/05/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, make yourselves worthy of claiming a tilak of sovereignty. The more you study, and the more you follow shrimat, the more you will be able to claim your tilak of sovereignty.
Question: What awareness should you maintain so that you forget the awareness of Ravan?
Answer: Always remain aware that you are neither male nor female, but souls, that you are claiming your inheritance from the senior Father (Shiv Baba) through the junior father (Brahma). This awareness removes your awareness of Ravan’s devilish things. When you have the awareness that you are all simply children of the one Father, your awareness of devilish things will end. This is a very good way to remain pure. However, a lot of effort is required for this.
Song: Having found You, we have found everything; the earth, the sky and everything else belongs to us.

Om shanti. The spiritual Father sits here and explains to you spiritual children. Just look how everyone puts a tilak in the centre of the forehead. It is because, firstly, the soul resides there, and secondly, the tilak of sovereignty is applied there; it symbolises the soul anyway. You souls now want to receive your inheritance of heaven from the Father; you want your tilak of the kingdom of the world. You are studying to become emperors and empresses of the sun and moon dynasties. To study means to give yourself the tilak of sovereignty. You have come here in order to study. The souls that live here say: Baba, we will definitely claim our sovereignty of the world. Each of you has to make effort for yourself. Children say: Baba, we will show You by becoming worthy. You can keep observing our behaviour as to how we are moving along. You can understand whether we have become worthy of giving ourselves a tilak of sovereignty or not. You children have to show the Father how worthy you are. Baba, we will definitely glorify Your name. We will become Your helpers, which means, our own helpers. Then we will rule our own kingdom in Bharat. People of Bharat say that it is their kingdom. However, the poor things do not know that they are now in the river of poison. It is not the kingdom of us souls at present. Souls, at the moment, are dangling upside down. There isn’t even enough to eat. When Bharat has reached such a state, Baba says: My children do not even have enough to eat. Therefore, I must go and teach them Raja Yoga. So the Father comes to teach you Raja Yoga. You have to remember the unlimited Father. He is the Creator of the new world. The Father is the Purifier and also the Ocean of Knowledge. This is not in the intellect of anyone but you. Only you children know that our Baba truly is the Ocean of Knowledge and the Ocean of Happiness. Remember this praise firmly. Do not forget it. It is the praise of the Father. That Father is beyond rebirth. The praise of Krishna is totally separate from His praise. The praise of a President is totally separate from that of a Prime Minister. The Father says: I have received the most elevated part in this drama. The actors of this drama should understand how it is unlimited and for how long it lasts. If they do not know this, they are called senseless. However, no one understands this. The Father comes and explains the contrast between what human beings have now become and what they used to be. You can now understand this. Human beings do not know at all how you take 84 births. There is the picture of how Bharat was so elevated. So much wealth was looted from the Somnath Temple. There was so much wealth there. You children have now come here to meet the unlimited Father. You children know that you have come to Baba to claim your tilak of sovereignty by following shrimat. The Father says: You definitely do have to become pure. Have you not become tired of choking in the river of poison for birth after birth? They even say: I am a sinner; I am virtueless; I have no virtues. They must definitely have had virtues at some time, but they no longer have them. You now understand that you were the masters of the world, that you were completely full of all virtues. Now, no virtues remain in you. The Father also explains all of these things. The Father is the Creator of the children. Therefore, the Father has mercy for all the children. The Father says: I too have a part to play in the drama. People have become so tamopradhan. There is so much lying, sinning and fighting etc. All the children of Bharat have forgotten that they were once the masters of the world, those who had double crowns. The Father reminds you that you used to be the masters of the world. You took 84 births. You have forgotten your 84 births. It is a wonder! Instead of 84 births, they speak of 8.4 million births and they also say that the duration of each cycle is many hundreds of thousands of years. They are in total darkness. There is so much falsehood. Bharat was the land of truth. Bharat is the land of falsehood. Who made it into the land of falsehood? Who makes it into the land of truth? No one knows this. No one knows Ravan at all. Devotees burn an effigy of Ravan. Talk to a religious person about all the things that people do. Ask: How can Ravan, the devil, exist in the golden age which is called heavenParadise? How can people of hell exist there? Then, he will understand that that must definitely be a mistake. You can explain using the picture of the kingdom of Rama. Ask him: How can Ravan exist there? Although you explain these things to them, they don’t understand anything. Scarcely a few emerge. There are so few of you! As you go further, you will see just how many remain. Therefore, Baba has explained that a small tilak is applied as a symbol of the soul, and that a larger tilak is applied as a symbol of sovereignty. The Father has now come. He asks you: How can you give yourself a large tilak? How do you claim self-sovereignty? He shows you the path for this. He has named this path Raja Yoga. It is the Father who teaches you this. Krishna cannot be the Father; he is a child. Then he marries Radhe and they have a child. To say that Krishna had so many queens is false. However, that too is fixed in the drama. You will listen to such things once again. It is now in the intellects of you children how you souls come from up above to play your parts. Then you renounce one body and take your next one. This is very easy. When a child is born you teach him: Say this. He learns something by being taught. What does Baba teach you? He says: Simply remember the Father and your inheritance. You even sing: You are the Mother and You are the Father. It is the soul that sings. You souls definitely receive a lot of happiness. You children know that Shiv Baba is teaching you. You have come here to Shiv Baba. “The Lucky Chariot” (Bhagirath) is a human being’s chariot. The Supreme Father, the Supreme Soul, sits in that chariot. What is the name of the chariot? You now know that its name is Brahma, because Brahmins are created through Brahma. First of all, there is the topknot of Brahmins and then there are deities. First of all, Brahmins are needed. This is shown in the variety-form image. Only you Brahmins then become deities. The Father explains everything very clearly. In spite of that, you forget. The Father says: Children, always remain aware that you are neither male nor female, but souls, and that you are claiming your inheritance from your senior (Shiv) Baba through the junior (Brahma) baba. Then, you will forget the awareness of devilish things. This is a very good way to remain pure. Many couples come to Baba. They both say: Baba. Since they have become aware of being children of the one Father, everything of Ravan has to be forgotten. This requires effort. Nothing happens unless you make effort. We belong to Baba and we must only remember Him. Baba also says: Remember Me and your sins will be absolved. The story of 84 births is very easy to understand. The effort lies in remembering the Father. The Father says: Make effort to have at least eight hours of remembrance. At least come to class for half an hour or an hour. You will be reminded of what the Father is teaching you. You are now personally sitting in front of the Father. The Father continues to call you “Child, child” and explains to you. You children listen to Him. The Father says: Hear no evil! This aspect applies to this time. You children know that you have now personally come to the Father, the Ocean of Knowledge. The Father, the Ocean of Knowledge, is giving you the knowledge of the whole world. Whether you accept this or not is up to you. The Father has now come and is giving us knowledge. We are now studying Raja Yoga. There will be no trace of the scriptures or of devotion. On the path of devotion, there isn’t the slightest trace of knowledge, and on the path of knowledge, there isn’t the slightest trace of devotion. It is only when the Ocean of Knowledge comes that He can give us this knowledge. His knowledge is for attaining salvation. The Bestower of Salvation is only the One and He is called God. Everyone calls out to the one Purifier. Therefore, how can there be anyone else who purifies you? You children are now listening to true things from the Father. The Father has told you: Children, I went away after making you wealthy. It was a matter of 5000 years ago. You were doublecrowned. You had a crown of purity. Then, when Ravan’s kingdom began, you became worshippers. The Father has now come again to teach you. Therefore, follow His shrimat and also explain to others. The Father says: I have to take this body on loan. All the praise is of that One; I am simply His chariot. I am not a bull. The greatness is of all of you. Baba speaks to you and I listen in between. How would He speak to me alone? When He speaks to all of you I also hear what He says. This one is an effort-making student. You too are students. This one also studies; he too stays in remembrance of the Father. He stays in so much happiness! There is so much happiness on seeing the picture of Lakshmi and Narayan because that is what I am going to become. You have come here to become princes and princesses of heaven. This is Raja Yoga. That is your aim and objective. The One who teaches you is also sitting here. So, why isn’t there that much happiness? There should be great happiness inside you. We claim our inheritance from Baba every cycle. We come here to the Ocean of Knowledge. There is no question of water etc. The Father is personally explaining to you. You are studying to become this (deities). You children should have a lot of happiness because you are now going back home. To whatever extent you study now, so you will claim a high status accordingly. Each of you has to make effort for yourself. Do not become disheartened. This lottery is very big. Even after understanding this, there are some who become amazed. They run away and stop studying. Maya is so powerful! Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to give yourself a tilak of sovereignty, make yourself worthy. Become a worthy child and give the proof of that. Your activity and behaviour have to be very royal. Become a complete helper of the Father.
  2. We are students and God is teaching us. Study with this happiness. Never become disheartened with your efforts.
Blessing: May you pass in the paper of one second with your controlling power and pass withhonours.
Come into the body one moment and to be detached from the body the next and to stabilise in the avyakt stage. To the extent that there is chaos, let your stage be very peaceful and for this you need the power to pack up. In one second, go from expansion to the essence and in one second, go from the essence to its expansion – only those with such controlling power are able to control the world. It is this practise that will enable you to pass with honours in the final paper of one second.
Slogan: Experience and give others the experience of the stage of retirement and the games of childhood will finish.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 23 MAY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 23 May 2020

Murli Pdf for Print : – 

23-05-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – अपने को राजतिलक देने के लायक बनाओ, जितना पढ़ाई पढ़ेंगे, श्रीमत पर चलेंगे तो राजतिलक मिल जायेगा”
प्रश्नः- किस स्मृति में रहो तो रावणपने की स्मृति विस्मृत हो जायेगी?
उत्तर:- सदा स्मृति रहे कि हम स्त्री-पुरूष नहीं, हम आत्मा हैं, हम बड़े बाबा (शिवबाबा) से छोटे बाबा (ब्रह्मा) द्वारा वर्सा ले रहे हैं। यह स्मृति रावणपने की स्मृति को भुला देगी। जबकि स्मृति आई कि हम एक बाप के बच्चे हैं तो रावणपने की स्मृति समाप्त हो जाती है। यह भी पवित्र रहने की बहुत अच्छी युक्ति है। परन्तु इसमें मेहनत चाहिए।
गीत:- तुम्हें पाके हमने……..

ओम् शान्ति। रूहानी बाप बैठ रूहानी बच्चों को समझाते हैं। देखो सब तिलक यहाँ (भृकुटी में) देते हैं। इस जगह एक तो आत्मा का निवास है, दूसरा फिर राजतिलक भी यहाँ दिया जाता है। यह आत्मा की निशानी तो है ही। अब आत्मा को बाप का वर्सा चाहिए स्वर्ग का। विश्व का राज्य तिलक चाहिए। सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी महाराजा-महारानी बनने के लिए पढ़ते हैं। यह पढ़ना गोया अपने लिए अपने को राजतिलक देना है। तुम यहाँ आये ही हो पढ़ने लिए। आत्मा जो यहाँ निवास करती है वह कहती है बाबा हम आपसे विश्व का स्वराज्य अवश्य प्राप्त करेंगे। अपने लिए हर एक को अपना पुरूषार्थ करना है। कहते हैं बाबा हम ऐसे सपूत बनकर दिखायेंगे। आप हमारी चलन को देखते रहना कि कैसे चलते हैं। आप भी जान सकते हो हम अपने को राजतिलक देने लायक बने हैं या नहीं? तुम बच्चों को बाप का सपूत बन कर दिखाना है। बाबा हम आपका नाम जरूर बाला करेंगे। हम आपके मददगार सो अपने मददगार बन भारत पर अपना राज्य करेंगे। भारतवासी कहते हैं ना – हमारा राज्य है। परन्तु उन बिचारों को पता नहीं है कि अभी हम विषय वैतरणी नदी में पड़े हैं। हम आत्मा का राज्य तो है नहीं। अभी तो आत्मा उल्टी लटकी पड़ी है। खाने का भी नहीं मिलता है। जब ऐसी हालत होती है तब बाबा कहते हैं अब तो हमारे बच्चों को खाने लिए भी नहीं मिलता है, अब हम जाकर इन्हों को राजयोग सिखलाऊं। तो बाप आते हैं राजयोग सिखाने। बेहद के बाप को याद करते हैं। वह है ही नई दुनिया रचने वाला। बाप पतित-पावन भी है, ज्ञान सागर भी है। यह सिवाए तुम्हारे और कोई की बुद्धि में नहीं है। यह सिर्फ तुम बच्चे जानते हो – बरोबर हमारा बाबा ज्ञान का सागर, सुख का सागर है। यह महिमा पक्की याद कर लो, भूलो नहीं। बाप की महिमा है ना। वह बाप पुनर्जन्म रहित है। कृष्ण की महिमा बिल्कुल न्यारी है। प्राइम मिनिस्टर, प्रेजीडेण्ट की महिमा तो अलग-अलग होती है ना। बाप कहते हैं मुझे भी इस ड्रामा में ऊंच ते ऊंच पार्ट मिला हुआ है। ड्रामा में एक्टर्स को मालूम होना चाहिए ना कि यह बेहद का ड्रामा है, इनकी आयु कितनी है। अगर नहीं जानते तो उनको बेसमझ कहेंगे। परन्तु यह कोई समझते थोड़ेही हैं। बाप आकर कान्ट्रास्ट बतलाते हैं कि मनुष्य क्या से क्या हो जाते हैं। अभी तुम समझ सकते हो, मनुष्यों को बिल्कुल पता नहीं है कि 84 जन्म कैसे लिये जाते हैं। भारत कितना ऊंच था, चित्र हैं ना। सोमनाथ मन्दिर से कितना धन लूटकर ले गये। कितना धन था। अभी तुम बच्चे यहाँ बेहद के बाप से मिलने आये हो। बच्चे जानते हैं बाबा से राजतिलक श्रीमत पर लेने आये हैं। बाप कहते हैं पवित्र जरूर बनना पड़ेगा। जन्म-जन्मान्तर विषय वैतरणी नदी में गोते खाकर थके नहीं हो! कहते भी हैं हम पापी हैं, मुझ निर्गुण हारे में कोई गुण नाही, तो जरूर कभी गुण थे जो अब नहीं हैं।

अभी तुम समझ गये हो – हम विश्व के मालिक, सर्वगुण सम्पन्न थे। अभी कोई गुण नहीं रहा है। यह भी बाप समझाते हैं। बच्चों का रचयिता है ही बाप। तो बाप को ही तरस पड़ता है सभी बच्चों पर। बाप कहते हैं मेरा भी ड्रामा में यह पार्ट है। कितने तमोप्रधान बन गये हैं। झूठ पाप, झगड़ा क्या-क्या लगा पड़ा है। सब भारतवासी बच्चे भूल गये हैं कि हम कोई समय विश्व के मालिक डबल सिरताज थे। बाप उन्हें स्मृति दिलाते हैं, तुम विश्व के मालिक थे फिर तुम 84 जन्म लेते आये हो। तुम अपने 84 जन्मों को भूल गये हो। वन्डर है, 84 के बदले 84 लाख जन्म लगा दिये हैं फिर कल्प की आयु भी लाखों वर्ष कह देते। घोर अन्धियारे में हैं ना। कितनी झूठ है। भारत ही सचखण्ड था, भारत ही झूठखण्ड है। झूठखण्ड किसने बनाया, सचखण्ड किसने बनाया – यह किसको पता नहीं। रावण को बिल्कुल ही जानते नहीं। भक्त लोग रावण को जलाते हैं। कोई रिलीजस आदमी हो, उनको तुम बताओ कि मनुष्य यह क्या-क्या करते हैं। सतयुग जिसको हेविन पैराडाइज़ कहते हो वहाँ शैतान रावण कहाँ से आया। हेल के मनुष्य वहाँ हो कैसे सकते। तो समझेंगे यह तो बरोबर भूल है। तुम रामराज्य के चित्र पर समझा सकते हो, इसमें रावण कहाँ से आया? तुम समझाते भी हो परन्तु समझते नहीं। कोई विरला निकलता है। तुम कितने थोड़े हो सो भी आगे चल देखना है, कितने ठहरते हैं।

तो बाबा ने समझाया – आत्मा की छोटी निशानी भी यहाँ ही दिखाते हैं। बड़ी निशानी है राजतिलक। अभी बाप आया हुआ है। अपने को बड़ा तिलक कैसे देना है, तुम स्वराज्य कैसे प्राप्त कर सकते हो? वह रास्ता बताते हैं। उसका नाम रख दिया है राजयोग। सिखलाने वाला है बाप। कृष्ण थोड़ेही बाप हो सकता। वह तो बच्चा है फिर राधे के साथ स्वयंवर होता है तब एक बच्चा होगा। बाकी कृष्ण को इतनी रानियां आदि दे दी हैं यह तो झूठ है ना। परन्तु यह भी ड्रामा में नूँध है, ऐसी बातें फिर भी सुनेंगे। अभी तुम बच्चों की बुद्धि में है – कैसे हम आत्मायें ऊपर से आती हैं पार्ट बजाने। एक शरीर छोड़ दूसरा लेती हैं। यह तो बहुत सहज है ना। बच्चा पैदा हुआ, उनको सिखलाते हैं – यह बोलो। तो सिखलाने से सीख जाता है। तुमको बाबा क्या सिखलाते हैं? सिर्फ कहते हैं बाप और वर्से को याद करो। तुम गाते भी हो तुम मात-पिता…… आत्मा गाती है ना बरोबर सुख घनेरे मिलते हैं। तुम बच्चे जानते हो शिवबाबा हमको पढ़ा रहे हैं। यहाँ तुम शिवबाबा के पास आये हो। भागीरथ तो मनुष्य का रथ है ना। इसमें परमपिता परमात्मा विराजमान होते हैं, परन्तु रथ का नाम क्या है? अभी तुम जानते हो नाम है ब्रह्मा क्योंकि ब्रह्मा द्वारा ब्राह्मण रचते हैं ना। पहले होते ही हैं ब्राह्मण चोटी फिर देवता। पहले तो ब्राह्मण चाहिए इसलिए विराट रूप भी दिखाया है। तुम ब्राह्मण ही फिर देवता बनते हो। बाप बहुत अच्छी रीति समझाते हैं, फिर भी भूल जाते हैं। बाप कहते बच्चे सदा स्मृति रखो कि हम स्त्री-पुरूष नहीं, हम आत्मा हैं। हम बड़े बाबा (शिवबाबा) से छोटे बाबा (ब्रह्मा) द्वारा वर्सा ले रहे हैं तो रावणपने की स्मृति विस्मृत हो जायेगी। यह पवित्र रहने की बहुत अच्छी युक्ति है। बाबा के पास बहुत जोड़े आते हैं, दोनों ही कहते हैं बाबा। जबकि स्मृति आई है हम एक बाप के बच्चे हैं तो फिर रावणपने की स्मृति विस्मृत हो जानी चाहिए, इसमें मेहनत चाहिए। मेहनत बिगर तो कुछ चल न सके। हम बाबा के बने हैं, उनको ही याद करते हैं। बाप भी कहते हैं मुझे याद करो तो विकर्म विनाश होंगे। 84 जन्मों की कहानी भी बिल्कुल सहज है। बाकी मेहनत है बाप को याद करने में। बाप कहते हैं कम से कम पुरूषार्थ कर 8 घण्टा तो याद करो। एक घड़ी आधी घड़ी…..। क्लास में आओ तो स्मृति आयेगी – बाप हमको यह पढ़ाते हैं। अभी तुम बाप के सम्मुख हो ना। बाप बच्चे-बच्चे कह समझाते हैं। तुम बच्चे सुनते हो। बाप कहते हैं हियर नो ईविल….. यह भी अभी की ही बात है।

अभी तुम बच्चे जानते हो हम ज्ञान सागर बाप के पास सम्मुख आये हैं। ज्ञान सागर बाप तुमको सारे सृष्टि का ज्ञान सुना रहे हैं। फिर कोई उठाये न उठाये, वो तो उनके ऊपर है। बाप आकर अभी हमको ज्ञान दे रहे हैं। हम अभी राजयोग सीखते हैं। फिर कोई भी शास्त्र आदि भक्ति का अंश नहीं रहेगा। भक्ति मार्ग में ज्ञान रिंचक मात्र नहीं, ज्ञान मार्ग में फिर भक्ति रिंचक मात्र नहीं। ज्ञान सागर जब आये तब वह ज्ञान सुनाये। उनका ज्ञान है ही सद्गति के लिए। सद्गति दाता है ही एक, जिसको ही भगवान कहा जाता है। सब एक ही पतित-पावन को बुलाते हैं फिर दूसरा कोई हो कैसे सकता। अभी बाप द्वारा तुम बच्चे सच्ची बातें सुन रहे हो। बाप ने सुनाया – बच्चे, मैं तुमको कितना साहूकार बनाकर गया था। 5 हज़ार वर्ष की बात है। तुम डबल सिरताज थे, पवित्रता का भी ताज था फिर जब रावण राज्य होता है तब तुम पुजारी बन जाते हो। अब बाप पढ़ाने आये हैं तो उनकी श्रीमत पर चलना है, औरों को भी समझाना है। बाप कहते हैं मुझे यह शरीर लोन लेना पड़ता है। महिमा सारी उस एक की ही है, मैं तो उनका रथ हूँ। बैल नहीं हूँ। बलिहारी सारी तुम्हारी है, बाबा तुमको सुनाते हैं, मैं बीच में सुन लेता हूँ। मुझ अकेले को कैसे सुनायेंगे। तुमको सुनाते हैं मैं भी सुन लेता हूँ। यह भी पुरूषार्थी स्टूडेन्ट है। तुम भी स्टूडेन्ट हो। यह भी पढ़ते हैं। बाप की याद में रहते हैं। कितनी खुशी में रहते हैं। लक्ष्मी-नारायण को देख खुशी होती है – हम यह बनने वाले हैं। तुम यहाँ आये ही हो स्वर्ग के प्रिन्स-प्रिन्सेज बनने। राजयोग है ना। एम ऑब्जेक्ट भी है। पढ़ाने वाला भी बैठा है फिर इतनी खुशी क्यों नहीं होती है। अन्दर में बहुत खुशी होनी चाहिए। बाबा से हम कल्प-कल्प वर्सा लेते हैं। यहाँ ज्ञान सागर के पास आते हैं, पानी की तो बात ही नहीं है। यह तो बाप सम्मुख समझा रहे हैं। तुम भी यह (देवता) बनने के लिए पढ़ रहे हो। बच्चों को बहुत खुशी होनी चाहिए – अभी हम जाते हैं अपने घर। अब जो जितना पढ़ेंगे उतना ऊंच पद पायेंगे। हर एक को अपना पुरूषार्थ करना है। दिलहोल (दिलशिकस्त) मत बनो। बहुत बड़ी लाटरी है। समझते हुए भी फिर आश्चर्यवत् भागन्ती हो पढ़ाई को छोड़ देते हैं। माया कितनी प्रबल है। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपने को राजतिलक देने के लायक बनाना है। सपूत बच्चा बनकर सबूत देना है। चलन बड़ी रॉयल रखनी है। बाप का पूरा-पूरा मददगार बनना है।

2) हम स्टूडेन्ट हैं, भगवान हमें पढ़ा रहे हैं, इस खुशी से पढ़ाई पढ़नी है। कभी भी पुरूषार्थ में दिलशिकस्त नहीं बनना है।

वरदान:- कन्ट्रोलिंग पावर द्वारा एक सेकण्ड के पेपर में पास होने वाले पास विद ऑनर भव
अभी-अभी शरीर में आना और अभी-अभी शरीर से न्यारे बन अव्यक्त स्थिति में स्थित हो जाना। जितना हंगामा हो उतना स्वयं की स्थिति अति शान्त हो, इसके लिए समेटने की शक्ति चाहिए। एक सेकण्ड में विस्तार से सार में चले जायें और एक सेकण्ड में सार से विस्तार में आ जाएं, ऐसी कन्ट्रोलिंग पावर वाले ही विश्व को कन्ट्रोल कर सकते हैं। और यही अभ्यास अन्तिम एक सेकण्ड के पेपर में पास विद आनर बना देगा।
स्लोगन:- वानप्रस्थ स्थिति का अनुभव करो और कराओ तो बचपन के खेल समाप्त हो जायेंगे।

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 23 MAY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 23 May 2019

To Read Murli 22 May 2019 :- Click Here
23-05-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – इस दु:खधाम को जीते जी तलाक दो क्योंकि तुम्हें सुखधाम जाना है”
प्रश्नः- बाप बच्चों को कौन-सी एक छोटी सी मेहनत देते हैं?
उत्तर:- बाबा कहते – बच्चे, काम महाशत्रु है, इस पर विजय प्राप्त करो। यही तुम्हें थोड़ी-सी मेहनत देता हूँ। तुम्हें सम्पूर्ण पावन बनना है। पतित से पावन अर्थात् पारस बनना है। पारस बनने वाले पत्थर नहीं बन सकते। तुम बच्चे अभी गुल-गुल बनो तो बाप तुम्हें नयनों पर बिठाकर साथ ले जायेंगे।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप रूहानी बच्चों को समझाते हैं, यह तो बच्चे जरूर समझते हैं हम ब्राह्मण ही हैं, जो देवता बनेंगे। यह पक्का निश्चय है ना। टीचर जिसको पढ़ाते हैं जरूर आपसमान बना देते हैं। यह तो निश्चय की बात है। कल्प-कल्प बाप आकर समझाते हैं, हम नर्कवासियों को स्वर्गवासी बनाते हैं। सारी दुनिया को बनाने वाला कोई तो होगा ना। बाप स्वर्गवासी बनाते हैं, रावण नर्कवासी बनाते हैं। इस समय है रावण राज्य, सतयुग में है रामराज्य। राम-राज्य की स्थापना करने वाला है तो जरूर रावण राज्य की स्थापना करने वाला भी होगा। राम भगवान् को कहा जाता है, भगवान् नई दुनिया स्थापन करते हैं। ज्ञान तो बहुत सहज है, कोई बड़ी बात नहीं है। परन्तु पत्थरबुद्धि ऐसे हैं जो पारसबुद्धि होना ही असम्भव समझते हैं। नर्कवासी से स्वर्गवासी बनने में बड़ी मेहनत लगती है क्योंकि माया का प्रभाव है। कितने बड़े-बड़े मकान 50 मंजिल, 100 मंजिल के बनाते हैं। स्वर्ग में कोई इतनी मंजिल नहीं होती। आजकल यहाँ ही बनाते रहते हैं। तुम समझते हो सतयुग में ऐसे मकान नहीं होते, जैसे यहाँ बनाते हैं। बाप खुद समझाते हैं इतना छोटा झाड़ सारे विश्व पर होता है, तो वहाँ मंजिलें आदि बनाने की दरकार ही नहीं। ढेर की ढेर जमीन पड़ी रहती है। यहाँ तो जमीन है नहीं, इसलिए जमीन का दाम कितना बढ़ गया है। वहाँ तो जमीन का भाव लगता ही नहीं, न म्युनिसिपल टैक्स आदि लगता है। जिसको जितनी जमीन चाहिए ले सकता है। वहाँ तुमको सब सुख मिल जाते हैं, सिर्फ एक बाप की इस नॉलेज से। मनुष्य 100 मंजिल आदि जो बनाते हैं, उसमें भी पैसे आदि तो लगते हैं ना। वहाँ पैसे आदि लगते ही नहीं। अथाह धन रहता है। पैसे का कदर नहीं। ढेर पैसे होंगे तो क्या करेंगे। सोने, हीरे, मोतियों के महल आदि बना देते हैं। अभी तुम बच्चों को कितनी समझ मिली है। समझ और बेसमझ की ही बात है। सतो बुद्धि और तमो बुद्धि। सतोप्रधान स्वर्ग के मालिक, तमोगुणी बुद्धि नर्क के मालिक। यह तो स्वर्ग नहीं है। यह है रौरव नर्क। बहुत दु:खी हैं इसलिए पुकारते हैं भगवान् को, फिर भूल जाते हैं। कितना माथा मारते, कान्फ्रेन्स आदि करते रहते हैं कि एकता हो जाए। परन्तु तुम बच्चे समझते हो – यह आपस में मिल नहीं सकते। यह सारा झाड़ जड़जड़ीभूत है, फिर नया बनता है। तुम जानते हो कलियुग से सतयुग कैसे बनता है। यह नॉलेज तुमको बाप अभी ही समझाते हैं। सतयुगवासी सो फिर कलियुगवासी बनते हो फिर तुम संगमवासी बन सतयुगवासी बनते हो। कहेंगे इतने सब सतयुग में जायेंगे? नहीं, जो सच्ची सत्य नारायण की कथा सुनेंगे वही स्वर्ग में जायेंगे। बाकी सब शान्तिधाम में चले जायेंगे। दु:खधाम तो होगा ही नहीं। तो इस दु:खधाम को जीते जी तलाक दे देना चाहिए। बाप युक्ति तो बताते हैं, कैसे तुम तलाक दे सकते हो। इस सारी सृष्टि पर देवी-देवताओं का राज्य था। अभी फिर बाप आते हैं स्थापना करने। हम उस बाप से विश्व का राज्य ले रहे हैं। ड्रामा प्लैन अनुसार चेंज जरूर होनी है। यह है पुरानी दुनिया। इसको सतयुग कैसे कहेंगे? परन्तु मनुष्य बिल्कुल समझते नहीं हैं कि सतयुग क्या होता है। बाबा ने समझाया है इस नॉलेज के लिए लायक वह हैं जिन्होंने बहुत भक्ति की है। उन्हें ही समझाना चाहिए। बाकी जो इस कुल के होंगे नहीं, वह समझेंगे नहीं। तो फिर ऐसे ही टाइम वेस्ट क्यों करना चाहिए। हमारे घराने के ही नहीं हैं तो कुछ भी मानेंगे नहीं। कह देते हैं आत्मा क्या, परमात्मा क्या – यह मैं समझना ही नहीं चाहता हूँ। तो ऐसे के साथ मेहनत क्यों करनी चाहिए। बाबा ने समझाया है – ऊपर में लिखा हुआ है भगवानुवाच, मैं आता ही हूँ कल्प-कल्प पुरूषोत्तम संगमयुग पर और साधारण मनुष्य तन में। जो अपने जन्मों को नहीं जानता है, मैं बतलाता हूँ। पूरे 5 हजार वर्ष का पार्ट किसका होता है, हम बता देते हैं। जो पहले नम्बर में आया है उनका ही पार्ट होगा ना। श्रीकृष्ण की महिमा भी गाते हैं फर्स्ट प्रिन्स ऑफ सतयुग। वही फिर 84 जन्मों के बाद क्या होगा? फर्स्ट बेगर। बेगर टू प्रिन्स। फिर प्रिन्स टू बेगर। तुम समझते हो प्रिन्स टू बेगर कैसे बनते हैं। फिर बाप आकर कौड़ी से हीरे जैसा बनाते हैं। जो हीरे जैसा है वही फिर कौड़ी जैसा बनते हैं। पुनर्जन्म तो लेते हैं ना। सबसे ज्यादा जन्म कौन लेते हैं, यह तुम समझते हो। पहले-पहले तो श्रीकृष्ण को ही मानेंगे। उनकी राजधानी है। बहुत जन्म भी उनके होंगे। यह तो बहुत सहज बात है। परन्तु मनुष्य इन बातों पर ध्यान नहीं देते हैं। बाप समझाते हैं तो वन्डर खाते हैं। बाप एक्यूरेट बताते हैं फर्स्ट सो लास्ट। फर्स्ट हीरे जैसा, लास्ट कौड़ी जैसा। फिर हीरे जैसा बनना है, पावन बनना है, इसमें तकलीफ क्या है। पारलौकिक बाप ऑर्डीनेन्स निकालते हैं – काम महाशत्रु है। तुम पतित किससे बने हो? विकार में जाने से इसलिए बुलाते भी हैं पतित-पावन आओ क्योंकि बाप तो एवर पारसबुद्धि है, वह कभी पत्थरबुद्धि नहीं बनते हैं, कनेक्शन ही उनका और पहले नम्बर जन्म लेने वाले का हुआ। देवतायें तो बहुत होते हैं परन्तु मनुष्य कुछ भी समझते नहीं।

क्रिश्चियन लोग कहते हैं क्राइस्ट से 3 हज़ार वर्ष पहले पैराडाइज़ था। वह फिर भी पिछाड़ी को आये हैं ना तो उनकी ताकत है। उनसे ही सब सीखने जाते हैं क्योंकि उन्हों की फ्रेश बुद्धि है। वृद्धि भी उन्हों की है। सतो, रजो, तमो में आते हैं ना। तुम जानते हो सब कुछ विलायत से ही सीखते हैं। यह भी तुम जानते हो – सतयुग में महल आदि बनने मे कोई टाइम नहीं लगेगा। एक की बुद्धि में आया फिर वृद्धि होती जाती है। एक बनाकर फिर ढेर बनाते जाते हैं। बुद्धि में आ जाता है ना। साइंस वालों की बुद्धि तुम्हारे पास ऊंच हो जाती है। झट महल बनाते रहेंगे। यहाँ मकान वा मन्दिर बनाने में 12 मास लग जाते हैं, वहाँ तो इन्जीनियर आदि सब होशियार होते हैं। वह है ही गोल्डन एज। पत्थर आदि तो होंगे ही नहीं। अभी तुम बैठे हो ख्याल करते होंगे, हम यह पुराना शरीर छोड़ेंगे, फिर घर में जायेंगे, वहाँ से फिर सतयुग में योगबल से जन्म लेंगे। बच्चों को खुशी क्यों नहीं होती! चिंतन क्यों नहीं चलता! जो मोस्ट सर्विसएबुल बच्चे हैं उन्हों का चिंतन जरूर चलता होगा। जैसे बैरिस्टरी पास करते हैं तो बुद्धि में चलता है ना – हम यह करेंगे, यह करेंगे। तुम भी समझते हो हम यह शरीर छोड़ जाकर यह बनेंगे। याद से ही तुम्हारी आयु वृद्धि को पायेगी। अभी तो बेहद बाप के बच्चे हैं, यह ग्रेड बहुत ऊंची है। तुम ईश्वरीय परिवार के हो। उनका कोई और सम्बन्ध नहीं है। भाई-बहन से भी ऊंच चढ़ा दिया है। भाई-भाई समझो, यह बहुत प्रैक्टिस करनी है। भाई का निवास कहाँ है? इस तख्त पर अकाल आत्मा रहती है। यह तख्त सभी आत्माओं के सड़ गये हैं। सबसे जास्ती तुम्हारा तख्त सड़ गया है। आत्मा इस तख्त पर विराजमान होती है। भ्रकुटी के बीच में क्या है? यह बुद्धि से समझने की बातें हैं। आत्मा बिल्कुल सूक्ष्म है, स्टॉर मिसल है। बाप भी कहते हैं मैं भी बिन्दू हूँ। मैं फिर तुमसे बड़ा थोड़ेही हूँ। तुम जानते हो हम शिवबाबा की सन्तान हैं। अब बाप से वर्सा लेना है इसलिए अपने को भाई-भाई आत्मा समझो। बाप तुमको सम्मुख पढ़ा रहे हैं। आगे चल और ही कशिश होती जायेगी। यह विघ्न भी ड्रामा अनुसार पड़ते रहते हैं।

अभी बाप कहते हैं – तुमको पतित नहीं होना है, यह ऑर्डीनेन्स है। अब तो और ही तमोप्रधान बन पड़े हैं। विकार बिगर रह नहीं सकते। जैसे गवर्मेन्ट कहती है शराब नहीं पियो, तो शराब बिगर रह नहीं सकते। फिर उनको ही शराब पिलाए डायरेक्शन देते हैं फलानी जगह बाम्ब्स सहित गिर जाओ। कितना नुकसान होता है। तुम यहाँ बैठे-बैठे विश्व का मालिक बनते हो। वह फिर वहाँ बैठे-बैठे बाम्ब्स छोड़ते हैं – सारे विश्व के विनाश के लिए। कैसे चटाभेटी है। तुम यहाँ बैठे-बैठे बाप को याद करते हो और विश्व के मालिक बन जाते हो। कैसे भी करके बाप को याद जरूर करना है। इसमें हठयोग करने वा आसन आदि लगाने की भी बात नहीं है। बाबा कोई भी तकलीफ नहीं देते हैं। कैसे भी बैठो सिर्फ तुम याद करो कि हम मोस्ट बीलव्ड (प्यारे) बच्चे हैं। तुमको बादशाही ऐसे मिलती है जैसे माखन से बाल। गाते भी हैं सेकण्ड में जीवनमुक्ति। कहाँ भी बैठो, घूमो फिरो, बाप को याद करो। पवित्र होने बिगर जायेंगे कैसे? नहीं तो सजायें खानी पड़ेंगी। जब धर्मराज के पास जायेंगे तब सबका हिसाब-किताब चुक्तू होगा। जितना पवित्र बनेंगे उतना ऊंच पद पायेंगे। इमप्योर रहेंगे तो सूखा रोटला खायेंगे। जितना बाप को याद करेंगे, पाप कटेंगे। इसमें खर्चे आदि की कोई बात नहीं। भल घर में बैठे रहो, बाप से भी मंत्र ले लो। यह है माया को वश करने का मंत्र – मनमनाभव। यह मंत्र मिला फिर भल घर जाओ। मुख से कुछ बोलो नहीं। अल्फ और बे, बादशाही को याद करो। तुम समझते हो बाप को याद करने से हम सतोप्रधान बन जायेंगे, पाप कट जायेंगे। बाबा अपना अनुभव भी सुनाते हैं – भोजन पर बैठता हूँ, अच्छा, हम बाबा को याद कर खाते हैं, फिर झट भूल जाता हूँ क्योंकि गाया जाता है जिनके मत्थे मामला… कितना ख्याल करना पड़ता है – फलाने की आत्मा बहुत सर्विस करती है, उनको याद करना है। सर्विसएबुल बच्चों को बहुत प्यार करते हैं। तुमको भी कहते हैं इस शरीर में जो आत्मा विराजमान है, उनको याद करो। यहाँ तुम आते ही हो शिवबाबा के पास। बाप वहाँ से नीचे आये हैं। तुम सबको कहते भी हो – भगवान् आया है। परन्तु समझते नहीं। युक्ति से बताना पड़े। हद और बेहद के दो बाप हैं। अब बेहद का बाप राजाई दे रहे हैं। पुरानी दुनिया का विनाश भी सामने खड़ा है। एक धर्म की स्थापना, अनेक धर्मों का विनाश होता है। बाप कहते हैं मामेकम् याद करो तो तुम्हारे पाप भस्म हो जायेंगे। यह योग अग्नि है, जिससे तुम तमोप्रधान से सतोप्रधान बन जायेंगे। यह तरीका बाप ने ही बताया है। तुम बच्चे जानते हो – बाप सबको गुल-गुल बनाकर, नयनों पर बिठाए ले जाते हैं। कौन-से नयन? ज्ञान के। आत्माओं को ले जाते हैं। समझते हो जाना तो जरूर है, उनसे पहले क्यों न बाप से वर्सा तो ले लें। कमाई भी बहुत भारी है। बाप को भूलने से फिर घाटा भी बहुत है। पक्के व्यापारी बनो। बाप को याद करने से ही आत्मा पवित्र बनेंगी। फिर एक शरीर छोड़ दूसरा जाकर लेंगे। तो बाप कहते हैं – मीठे-मीठे बच्चों, देही-अभिमानी बनो। यह आदत पक्की डालनी पड़े। अपने को आत्मा समझ बाप से पढ़ते रहो तो बेड़ा पार हो जायेगा, शिवालय में चले जायेंगे। चन्द्रकांत वेदान्त में भी यह कथा है। बोट (नांव) कैसे चलती है, बीच में उतरते हैं, कोई चीज़ में दिल लग जाती है। स्टीमर चला जाता है। यह भक्ति मार्ग के शास्त्र फिर भी बनेंगे, तुम पढ़ेंगे। फिर जब बाबा आयेंगे तो यह सब छोड़ देंगे। बाप आते हैं सबको ले जाने। भारत का उत्थान और पतन कैसे होता है, कितना क्लीयर है। यह सांवरा और गोरा बनता है। ब्रह्मा सो विष्णु, विष्णु सो ब्रह्मा। एक तो सिर्फ नहीं बनता है ना। यह सारी समझानी है। कृष्ण की भी समझानी है गोरा और सांवरा। स्वर्ग में जाते हैं तो नर्क को लात मारते हैं। यह चित्र में क्लीयर है ना। राजाई के चित्र भी तुम्हारे बनाये थे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप के ऑर्डीनेन्स को पालन करने के लिए हम आत्मा भाई-भाई हैं, भ्रकुटी के बीच में हमारा निवास है, हम बेहद बाप के बच्चे हैं, हमारा यह ईश्वरीय परिवार है – इस स्मृति में रहना है। देही-अभिमानी बनने की आदत डालनी है।

2) धर्मराज की सजाओं से छूटने के लिए अपने सब हिसाब-किताब चुक्तू करने हैं। माया को वश करने का जो मंत्र मिला है, उसको याद रखते सतोप्रधान बनना है।

वरदान:- सदा अलर्ट रह सर्व की आशाओं को पूर्ण करने वाले मास्टर मुक्ति-जीवनमुक्ति दाता भव
अब सभी बच्चों में यह शुभ संकल्प इमर्ज होना चाहिए कि सर्व की आशाओं को पूर्ण करें। सबकी इच्छा है कि जन्म-मरण से मुक्त हो जाएं, तो उसका अनुभव कराओ। इसके लिए अपने शक्तिशाली सतोप्रधान वायब्रेशन से प्रकृति और मनुष्यात्माओं की वृत्तियों को चेंज करो। मास्टर दाता बन हर आत्मा की आशाओं को पूर्ण करो। मुक्ति, जीवनमुक्ति का दान दो। यह जिम्मेवारी की स्मृति आपको सदा अलर्ट बना देगी।
स्लोगन:- मुरलीधर की मुरली पर देह की भी सुध-बुध भूलने वाले ही सच्चे गोप गोपियां हैं।

TODAY MURLI 23 MAY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 23 May 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 22 May 2019 :- Click Here

23/05/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, divorce this land of sorrow while alive because you have to go to the land of happiness.
Question: Which one small effort does the Father ask you children to make?
Answer: The Father says: Children, lust is the greatest enemy and you have to conquer it. This is the only small effort I give you. You have to become totally pure. To become pure from impure means that you have to become divine (paras). Those who are becoming divine cannot become stone. When you children become beautiful flowers, the Father will seat you in His eyes and take you back with Him.

Om shanti. The spiritual Father explains to you spiritual children. You children surely understand that it is only you Brahmins who become deities. You have this firm faith. Whomever a teacher teaches, he will definitely make that one the same as himself. This is a question of faith. The Father comes and explains to us every cycle and He changes us residents of hell into residents of heaven. There must be someone who makes the whole world like that. The Father makes everyone into residents of heaven and Ravan makes everyone into residents of hell. At this time it is the kingdom of Ravan, whereas in the golden age it is the kingdom of Rama. There is someone who establishes the kingdom of Rama, and so there must also surely be someone who establishes the kingdom of Ravan. God is called Rama. God establishes the new world. Knowledge is very easy. It’s not a big thing, but people have such stone intellects that they think it is impossible to become those with divine intellects. It requires a lot of effort to change from residents of hell into residents of heaven because there is the influence of Maya. People construct so many huge buildings of 50 storeys and 100 storeys. In heaven, there won’t be that many storeys. They only build those here nowadays. You understand that there is no need to make such huge buildings in the golden age like they build here. The Father Himself explains: There is this small tree (the population of the golden age) which spreads over the whole world, and so there is no need to build buildings with many storeys. There is plenty of land there at that time, whereas, there is no land here now, and this is why the cost of land has increased so much. There, land doesn’t cost anything and there aren’t any municipal taxes. However much land someone wants, he can take. There, you receive all types of happiness just by having this knowledgefrom the one Father. The buildings that people construct of 100 storeys etc. cost money. There, it doesn’t cost anything. You have plenty of wealth there. Money has no value there. What would you do if you had a lot of money? Build palaces with gold, diamonds, pearls etc. You children have now received so much understanding. Everything is a matter of understanding or not understanding. There is the sato intellect and the tamo intellect. Those who were satopradhan were the masters of heaven and those who have tamoguni intellects are the masters of hell. This is not heaven. This is the extreme depths of hell. People here are very unhappy. This is why they call out to God, and then they forget Him. They beat their heads so much. They hold conferences so that there can be unity. However, you children understand that they cannot unite. This whole tree has reached a state of total decay and a new tree is now growing. You know how the iron age changes into the golden age. Only at this time does the Father explain this knowledge to you. You become the residents of the golden age and then the residents of the iron age, and you then become the residents of the confluence age and then the residents of the golden age. You may ask: Will all this many people go to the golden age? No, only those who listen to the true story of Narayan will go to heaven. All the rest will go to the land of peace. The land of sorrow will not be there. So, you should divorce this land of sorrow while you live. The Father shows you the way you can divorce this world. There was the kingdom of deities over the whole world. The Father has now come to establish that once again. We are receiving the kingdom of the world from that Father. According to the dramaplan, there definitely has to be some change. This is the old world. How could you call it the golden age? However, people don’t understand at all what the golden age is. Baba has explained: Those who have done a lot of devotion become worthy of receiving this knowledge. You should only explain to such people. Those who don’t belong to this clan will not understand. So, why should you waste your time just like that? If they don’t belong to our clan, they will not accept anything. They say: I don’t even want to understand what a soul is or what the Supreme Soul is. So, why should you make effort over such souls? Baba has explained to you: At the top, it is written: God speaks: I come at the most auspicious confluence age of every cycle in an ordinary human body of one who doesn’t know about his own births. I tell him about them. I tell you who has the part of the full 5000 years. This would be the part of the one who came in the first number. People still sing praise of Shri Krishna being the first prince of the golden age. What would he then become after 84 births? He would be the first beggar. He changes from a beggar to a prince and then from a prince to a beggar. You understand how he changes from a prince to a beggar. The Father then comes and makes Him like a diamond from a shell. Those who are like diamonds then become like shells. Everyone takes rebirth. You understand who takes the maximum births. First of all, they would accept Shri Krishna as this because it is his kingdom. He would be the one who takes many births. This is something very easy to understand, but people don’t pay attention to these things. When the Father explains this, people are amazed. The Father is telling you accurately that the first one then becomes the last one. The first one is like a diamond and the last one is like a shell. You have to become like a diamond once again, that is, you have to become pure. What difficulty is there in this? The parlokik Father issues an ordinance: Lust is the greatest enemy. How did you become impure? By indulging in vice. This is why you call out: O Purifier, come! The Father has an everdivine (paras) intellect. He never becomes one with a stone intellect. The connection is between Him and the one who takes the number one birth. There are many deities, but people don’t understand anything. Christians say that 3000 years before Christ there was Paradise. They came later and so they have that strength. Everyone goes to learn something from them because their intellects are fresh. Their numbers have grown. They go through the stages of sato, rajo and tamo. You know that people learn everything from people abroad. You also know that it will not take time to build palaces in the golden age etc. It (the design) would enter the intellect of one and then they would continue to increase them. They would build one and then begin to build many more. It enters their intellects. When scientists come to you, their intellects will become elevated and they will quickly build palaces. Here, it takes up to 12 months to build a building or a temple. There, engineers etc. will all be very clever. That is the golden age. There will not be stones there. You are now sitting here and should be thinking that you will shed those old bodies and go home. Then, from there, you will take birth through the power of yoga in the golden age. Why do you children not have this happiness? Why do you not think about these things? The most serviceable children would definitely be thinking about these things. Just as when someone passes the examination to become a barrister, his intellect works on the things he will do, so you also understand that you will shed those bodies and then go and become that. Only by having remembrance will your lifespan grow. You are now the children of the unlimited Father. This is a very high grade. You belong to God’s family. You don’t have any other relationships. You have been made even more elevated than brother and sister. Simply consider yourselves to be brothers. You have to practise this a great deal. Where does the brother reside? The immortal soul resides on this throne. These thrones of all souls have decayed. Your thrones have decayed the most. The soul is present on this throne. What is in the centre of the forehead? These things have to be understood with your intellect. A soul is completely subtle. It is like a star. The Father says: I too am a point. I am no bigger than you. You know that you are children of Shiv Baba. You now have to claim your inheritance from the Father. This is why you have to consider yourselves to be brothers, souls. The Father is teaching you personally. As you progress further, there will be a greater pull. These obstacles continue to come according to the drama. The Father now says: You must not become impure now. This is an ordinance. Souls have now become even more tamopradhan; they cannot stay without vice. The Government says that they mustn’t drink alcohol, yet people are unable to stay without it. They get them drunk and give them directions: Go and crash at such-and-such a place with a bomb. There is so much damage done. You are becoming the masters of the world while sitting here. Those people release bombs while sitting there. There is so much competition to destroy the world. You are sitting here and remembering the Father and you then become the masters of the world. No matter how, you definitely have to remember the Father. There is no question of doing hatha yoga or having a special sitting position etc. Baba doesn’t give you any difficulty. You can sit as you like, but simply remember that you are most beloved children. You receive a sovereignty as easily as pulling a hair out of butter. They sing that liberation-in-life is received in a second. You can sit anywhere or travel anywhere, but you have to remember the Father. How can you go back without becoming pure? Otherwise, there will have to be punishment experienced. When you all go to Dharamraj, everyone’s karmic accounts will be settled. The purer you become, the higher the status you will receive. If you remain impure, you will eat dry chapattis. The more you remember the Father, the more your sins will be cut away. There is no question of expense in this. You may remain seated at home, but just take the mantra from the Father. “Manmanabhav” is the mantra with which to control Maya. Once you receive this mantra, you may go home. Don’t say anything. Just remember Alpha and beta, the kingdom. You understand that by remembering the Father you will become satopradhan and your sins will be cut away. Baba also relates his own experience to you: When I sit for my meals, I think that I will eat in remembrance of Baba, but then I soon forget. This is because it is remembered: Those who have responsibilities on their heads…. Baba has to think of so much. The soul of so-and-so does a lot of service and so I have to remember that soul. Baba gives a lot of love to the serviceable children. He says to you too: Remember the Soul that is present in this body. You come here to Shiv Baba. The Father has come down from up there. You tell everyone that God has come, but they don’t understand. You have to tell them tactfully. There are the two fathers: a limited father and the unlimited Father. The unlimited Father is now giving you the kingdom. Destruction of the old world is in front of you. There is also the establishment of the one religion and the destruction of many religions. The Father says: Constantly remember Me alone and your sins will be burnt away. This is the fire of yoga through which you become satopradhan from tamopradhan. The Father Himself has shown you this method. You children know that the Father will make you all beautiful, seat you in His eyes and take you back home. Which eyes? The eyes of knowledge. He takes the souls with Him. You understand that you definitely have to go back. Therefore, why not claim the inheritance from the Father before that? The income is also very large. By your forgetting the Father, there is a lot of loss. Become real businessmen. Only by remembering the Father will the soul become pure. Each of you will then shed one body and take another. The Father says: Sweetest children, become soul conscious. Instil this habit firmly. Consider yourself to be a soul and continue to study with the Father and your boat will go across. You will then go to the Shiva Temple (Shivalaya). There is also a story mentioned in the Chandrakant Vedant of how a boat is moving along and how some passengers get off mid-way and their hearts become attached to something and the boat goes off without them. Those scriptures of the path of devotion will be made again and you will read them. Then, when Baba comes, you will stop doing all of that. The Father comes to take everyone back. It is very clear how the rise and fall of Bharat takes place. This one becomes ugly and beautiful. Brahma becomes Vishnu and Vishnu becomes Brahma. It isn’t just one that becomes this. All of this is explained to you. There is also the explanation of Krishna being ugly and beautiful. When he goes to heaven, he kicks hell away. This is clear in the pictures, is it not? Your photographs were taken of you in royal costumes. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to carry out the Father’s ordinance, maintain this awareness: We souls are brothers; we reside in the centre of our foreheads. We are the children of the unlimited Father and this is our Godly family. Instil the habit of being soul conscious.
  2. In order to become free from the punishment of Dharamraj, settle all your karmic accounts. Remember the mantra you have received to control Maya and become satopradhan.
Blessing: May you become a master bestower of liberation and liberation-in-life by remaining constantly alert and fulfilling everyone’s hopes.
Let the elevated thought of having to fulfil everyone’s hopes emerge in all you children. Everyone wishes to be free from the cycle of birth and death. Therefore, enable them to experience it. In order to do that, change the attitudes of human souls and nature with your powerful satopradhan vibrations. Become master bestowers and fulfill the hopes of every soul. Give the donation of liberation and liberation-in-life. The awareness of this responsibility will make you constantly alert.
Slogan: True gopes and gopis are those who forget all consciousness of their bodies while listening to the murli of Murlidhar.

*** Om Shanti ***

TODAY MURLI 23 MAY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 23 May 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 22 May 2018 :- Click Here

23/05/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, Shiv Baba is the altruistic number one TrusteeTransfer your old bags and baggage to Him and you will receive everything new in the golden age.
Question: Which children does the Father have to take care of in every way?
Answer: The Father is very concerned that the children have faith in their intellects and give their full news to the Father and take directions from the Father at every step. Baba says: Sweet children, you must never have doubts about shrimat. If you have doubts, Maya will cause great harm. She will not allow you to become worthy.
Song: I have come to your doorstep having taken an oath. 

Om shanti. You sweetest, beloved, long-lost and now-found children heard the song. Those who belong to the Father are called children. The Father has explained that you have to belong to the Father for as long as you live in this final birth in which you have died alive. You children know that shrimat is remembered as “God speaks”. They have written Krishna’s name in that Gita, but first is Shiv Baba, then Brahma and then Krishna. So shrimat cannot be said to be Krishna’s; he is a human being with divine virtues. Human beings cannot be called the Purifier. Only the one Father is the Purifier of the impure and you follow His shrimat. The incorporeal Supreme Soul is the Father of all religions. Not everyone believes in Krishna. Christians believe Christ, not Krishna, to be their father because Christians are the mouth-born creation of Christ. Shiv Baba comes and makes you belong to Him. He says: You now belong to the Father with your head in your hand (with that regard) in order to follow His directions. Children don’t need to give Him directions. He Himself is the One who gives you directions. You mustn’t ask: Why does Baba say this? No, all are the children. Shiv Baba is very well known. The directions He gives and whatever He does will be right. Whatever He makes this corporeal one (Brahma) do would also be right because He is Karankaravanhar. He gives him directions too: Do this! Your connection is with Shiv Baba. You mustn’t look at anyone’s defects. Follow shrimat. Shiv Baba is the Incorporeal, the detached Observer. He doesn’t have a home here. You stay here in a home that doesn’t belong to you. You will then go to heaven and live in your own home. Shiv Baba says: I will not live there. I come at the confluence age for a short time. You are the true spiritual Salvation Army. The Supreme Father is giving you directions exactly as He did in the previous cycle. He will give the same directions that He gave in the previous cycle. He continues to tell you the deepest points, day and night. A new person wouldn’t be able to understand them. The murli has continued from the time of Karachi. At first, Baba didn’t speak the murli. Baba would wake up at 2.00 am and write 10 to 15 pages. Shiv Baba would make him write that and then copies of those were made. On the path of devotion, they continue to make very big books which they keep. How much would you keep? You know that all of this is to be destroyed. All the pictures etc. are also for a short time and they will then be buried underground. There, there won’t be any scriptures or pictures. Whatever happens now will happen again after a cycle. The scriptures etc. will begin from the copper age. The Father says: You cannot find the way to the supreme abode from those. The Granth was very small to begin with and now, day by day, they continue to make it bigger. In fact, a big book of Shiv Baba’s biography should be written. You children know the Father’s biography. The Father explains what He does on the path of devotion. I insure everything even on the path of devotion. People donate in the name of God. They say: He did something in the name of God and this is why he has taken birth in a wealthy family. In devotion, there are many righteous souls. Baba says: I have been giving children the temporary fruit of that in their next birth. You receive good and bad fruit. It is such a big insurance. Each one receives fruit according to the actions he or she performs. Maya makes you perform wrong actions through which you receive sorrow. I now teach you such actions that you will never experience sorrow. Maya doesn’t exist there, and so each of you can insure yourself as much as you want. Shiv Baba is also the number one Trustee. Some are attracted to other things. Some trustees ruin everything of others. Look how Baba is the Trustee ! He says: All of this is for you children. Your full connection is with Shiv Baba. The Father says: I am the true Trustee. I Myself don’t take that happiness, but I give the whole kingdom to you children. This Baba also says: I have fully insured everything: body, mind and wealth are all being used for Baba’s service. There is a saying in Sindhi: Those who give a handful receive a palace in return. Look, a building has now been built. Someone sent one rupee and asked for a brick to be put in her name. Ah! because you are poor, you will receive the best palace of all. I am the Lord of the Poor. One rupee of a poor person is equivalent to 10,000 rupees of a wealthy person; both receive the same status. Wealthy people hardly ever come here. Kumaris are the most free. Look how Mama claimed number one. Baba gave everything, but nevertheless, first is Lakshmi and then Narayan. This is such a wonderful play! Never have any doubts about anything. Do not have the slightest doubt at all. Become very sweet. Take shrimat at every step. Otherwise, Maya will cause a great deal of harm. So many children have to be given directions. Baba says: Give your full news. Baba will take care of you in every way. Baba is very much concerned that the children become elevated. You should pay full attention to the study. You are the most beloved God fatherly students. “God speaks” is also remembered, but they have put Krishna’s name. Krishna is the highest of all human beings. They also mention Krishna’s name as the first number, but why not that of Narayan? Krishna is young and satopradhan. Then he goes through the stages of youth and old age. It is said that a child is equal to a brahm-gyani. A small child doesn’t commit sin. People celebrate the birthday of Krishna. They have shown him in the copper age. The Father alone explains all of these things. At this time you Brahmins are the most elevated; you are the children of God. In the golden age, you would not be called the children of God. You will definitely attain heaven from God. This is your most invaluable, precious life. It cannot be like this for everyone. This drama is predestined in this way. Those who studied in the previous cycle are studying now. God definitely created gods and goddesses. However, we cannot call them gods and goddesses, because God is One. All the praise is of the incorporeal One. There cannot be praise of a corporeal being. The incorporeal One made Lakshmi and Narayan become like that. You too are becoming the masters of heaven through the Father. You are studying Raja Yoga. Raja Yoga is truly mentioned in the Gita. At the time the kingdom was established, destruction also took place. It is now the confluence age. When Shiv Baba comes, He brings the play to an end. Then the birth of Krishna takes place. They build very big temples on the path of devotion. There used to be wealth worth multimillions in those temples. Now, all of that has disappeared. From studying the scriptures of the path of devotion, from going on pilgrimages, from building temples and spending so much money, Bharat has become poverty-stricken. It is as though you have now become master knowledge-full. The Father is the Ocean of Knowledge, the Ocean of Happiness and blissful. All of this is praise of the Father. The Father says: Bharat is the best pilgrimage place. However, by putting Krishna’s name, they have lost all respect. Otherwise, everyone would offer flowers at the Shiva Temple. The Bestower of Salvation for All is One. You experience the reward for half the cycle and you continue to come down. Everyone has to become tamopradhan. The Father says: Now give all your bags and baggage and I will transfer them and give them to you in the golden age. I Myself do not take them. People do everything for themselves and then say that they are doing it selflessly. However, no one can do anything selflessly. You definitely receive the reward of everything you do. I give you children the imperishable jewels of knowledge. I bring Paradise for you. I give you children the souvenir (gift) of sovereignty. So you have to become worthy of receiving it. You have to become the masters of heaven. You receive heaven on the palm of your hand. You receive liberation-in-life in a second and sovereignty in a second. Shiv Baba is the Bestower of divine vision. He takes you to Paradise in a second. This sakar Baba doesn’t hold that key. The Father says: I give you children the kingdom. I Myself do not rule. Then, when you go onto the path of devotion, I entertain you with divine visions. The Father explains to you so well! Baba only comes once every cycle, at the confluence age of the cycle. They say that He has many incarnations etc. but all of that is lies. The scriptures all belong to the path of devotion. That which is predestined is taking place; nothing is to be created now. Whatever happens is fixed in the drama. Just watch that as a detached observer. Baba explains to you very clearly: Children, I am your Insurance Magnate. I do not waste even one penny of yours. I change you from shells into diamonds. Shiv Baba does all of this through this one. He is Karankaravanhar. He is incorporeal and egoless. Look how God, the Father , sits here and teaches you. He doesn’t ask you to fall at His feet. The Father is the Obedient Servant. The Father says: The ones I made into the masters experienced a lot of happiness at first, but they have now become unhappy. They also receive a lot of happiness. No other religion has this much happiness. You cannot ask why the people of Bharat have it and why others don’t. There are so many people and not all can come there. The drama is predestined. The original eternal deity religion was only in Bharat. God came and taught true Raja Yoga. The Father says: I have come once again. You have played your part s of 84 births and you are now going back to your home. This costume has become very old. There is the example of the snake. Sannyasis say that souls merge into the Supreme Soul. They stay in such a stage and then leave their bodies. However, no one merges into the brahm element. Nevertheless, some of them are very clever. They sit peacefully and leave their bodies. The brahm element is not Baba. That is just an illusion of those poor people just as Hindus have the illusion that they belong to the Hindu religion. Oh! but where did the Hindu religion come from? That is from the name Hindustan. There was just the one religion in the golden age. Look how many religions there are now! There are so many languages. There, there is just the one language. They say that there should be one Government, but how would all the Governments become one? They don’t even understand brotherhood. They say that God is omnipresent and so that becomes a Fatherhood. So, if they call themselves the Father, whom would they invoke? This too is something to understand. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Do not see the weaknesses of anyone. Make a connection with one Shiv Baba. Consider the shrimat you receive from Baba to be right and continue to follow it. Never have doubts about shrimat.
  2. Fully insure your body, mind and wealth. Take shrimat at every step. Pay full attention to the study.
Blessing: May you be an embodiment of success by transforming your nature with natural attention and practice.
Anoriginal sanskar of all of you is attention. Since you know how to have tension, what is the big deal in keeping attention! Let there now not be any tension in your paying attention, but let there be natural attention. Souls have the natural practice of being detached. It was detached, it is detaches and it will again become detached. Just as the practice of coming into words has become a firm practice, in the same way, let the practice of going beyond words and being detached become natural and you will easily be able to achieve success in service with the powerful vibrations of being detached. This natural practice will change your nature.
Slogan: Do the exercise of being bodiless and observe the precaution of a diet free from wasteful thinking and you will remain ever healthy.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 23 MAY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 23 May 2018

To Read Murli 22 May 2018 :- Click Here
23-05-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – शिवबाबा निष्काम नम्बरवन ट्रस्टी है, उसे तुम अपना पुराना बैग-बैगेज ट्रान्सफर कर दो तो सतयुग में तुम्हें सब नया मिल जायेगा”
प्रश्नः- बाप को किन बच्चों की हर प्रकार से सम्भाल करनी पड़ती है?
उत्तर:- जो निश्चयबुद्धि बन अपना पूरा-पूरा समाचार बाप को देते हैं, बाप से हर कदम पर डायरेक्शन लेते हैं – ऐसे बच्चों का बाप को बहुत ख्याल रहता है। बाबा कहते – मीठे बच्चे, कभी भी श्रीमत में संशय नहीं आना चाहिए। संशय में आया तो माया बहुत नुकसान कर देगी। तुम्हें लायक बनने नहीं देगी।
गीत:- दर पर आये हैं…. 

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों ने गीत सुना। बच्चे उनको कहा जाता है जो बाप के बनते हैं। बाप ने समझाया है – यह अन्तिम मरजीवा जन्म, जीते जी बाप का बनना है। यह तो बच्चे जानते हैं, श्रीमत गाई हुई है। श्रीमद् भगवानुवाच। उस गीता में कृष्ण का नाम डाल दिया है। परन्तु पहले शिवबाबा, फिर ब्रह्मा, फिर कृष्ण। तो श्रीमत कृष्ण की नहीं कहेंगे, वह दैवी गुणों वाला मनुष्य है। मनुष्य को पतित-पावन नहीं कहा जाता। पतितों को पावन बनाने वाला एक ही बाप है, जिसकी श्रीमत पर तुम चल रहे हो। निराकार परमात्मा सभी धर्म वालों का पिता है। कृष्ण को सभी नहीं मानेंगे। क्रिश्चियन, क्राइस्ट को फादर मानते हैं, न कि कृष्ण को क्योंकि क्रिश्चियन हैं क्राइस्ट की मुख वंशावली।

शिवबाबा आकर तुमको अपना बनाते हैं। कहते हैं – सिर हथेली पर रखकर बाप का बने हैं – उनके डायरेक्शन पर चलने के लिए। बच्चों को उन्हें मत देने की दरकार नहीं है। वह खुद मत देने वाला है। ऐसे नहीं, यह क्यों कहते? नहीं, यह तो सब बच्चे हैं। शिवबाबा नामीग्रामी है। वह जो मत देंगे, जो कुछ करेंगे, राइट करेंगे। इस साकार (ब्रह्मा) से भी जो कुछ करायेंगे वह राइट ही होगा क्योंकि करनकरावनहार है। उनको भी यह मत देते हैं कि यह करो। तुम्हारा कनेक्शन है शिवबाबा से। कोई का भी अवगुण नहीं देखना है, श्रीमत पर चलना है। शिवबाबा तो है निराकार, साक्षी। उनका यहाँ घर है नहीं। तुम यहाँ पराये घर में रहते हो। फिर स्वर्ग में जाकर अपने घर में रहेंगे। शिवबाबा कहते हैं – मैं तो नहीं रहूँगा। मैं तो संगम पर थोड़े टाइम के लिए आता हूँ।

तुम हो सच्चे-सच्चे रूहानी सैलवेशन आर्मी। सुप्रीम बाप डायरेक्शन दे रहे हैं, हूबहू कल्प पहले मुआफिक। कल्प पहले जो डायरेक्शन दिये होंगे वही देंगे। दिन-रात गुह्य ते गुह्य बातें सुनाते रहते हैं। नया कोई समझ न सके। कराची से लेकर मुरली चलती आई है। पहले बाबा मुरली नहीं चलाते थे। रात दो बजे उठकर 10-15 पेज लिखते थे। शिवबाबा लिखवाते थे, फिर उसकी कापियाँ निकालते थे। भक्ति मार्ग के तो बड़े-बड़े किताब बनाते जाते हैं। वह फिर रखते हैं। तुम कितना रखेंगे क्योंकि जानते हैं यह सब विनाश होना है। चित्र आदि भी थोड़े समय के लिए हैं फिर यह दब जायेंगे। वहाँ न शास्त्र, न चित्र रहेंगे। फिर यह जो कुछ चल रहा है, कल्प बाद फिर होगा। शास्त्र आदि द्वापर से शुरू होंगे। जिनके लिए बाप समझाते हैं – इनसे परमधाम का रास्ता नहीं मिलता है। ग्रन्थ पहले बहुत छोटा था, दिन-प्रतिदिन बड़ा बनाते जाते हैं। वास्तव में शिवबाबा की जीवन कहानी बड़ी बनानी चाहिए। तुम बच्चे बाप की जीवन कहानी जानते हो।

बाप समझाते हैं – मैं भक्ति मार्ग में क्या-क्या करता हूँ। भक्ति मार्ग में भी इन्श्योरेन्स करता हूँ। ईश्वर अर्थ मनुष्य दान करते हैं। कहते हैं ना इसने ईश्वर अर्थ किया है तब साहूकार घर में जन्म लिया है। भक्ति में धर्मात्मा बहुत होते हैं। बाबा कहते हैं मैं बच्चों को दूसरे जन्म में इसका अल्पकाल के लिए फल देता आया हूँ। अच्छा वा बुरा फल मिलता है ना। कितना बड़ा इन्श्योरेन्स हुआ। जो जैसे कर्म करते हैं उस अनुसार फल मिलता है। माया उल्टा कर्म कराती है, जिससे तुम दु:ख पाते हो। अब मैं तुमको ऐसे कर्म सिखलाता हूँ, जो कभी दु:ख नहीं होगा और वहाँ माया भी नहीं होती तो जो जितना अपने को इन्श्योर करे।

शिवबाबा भी नम्बरवन ट्रस्टी है। दूसरे की आसक्ति जाती है, कोई ट्रस्टी किसका खाना खराब भी कर देते हैं। बाबा देखो कैसा ट्रस्टी है। कहते हैं यह सब कुछ बच्चों के लिए है। तुम्हारा सारा कनेक्शन शिवबाबा से है। बाप कहते हैं मैं सच्चा ट्रस्टी हूँ। मैं खुद सुख नहीं लेता हूँ, बच्चों को सारी राजधानी दे देता हूँ। यह बाबा भी कहते हैं – मैंने फुल इन्श्योर कर लिया है। तन-मन-धन सब बाबा की सर्विस में है। सिन्धी में एक कहावत है – “हथ जिसका हिंय पहला पुर सो पहुँचे….” (दाता समान हाथ हैं तो वह पहला नम्बर पहुंच जाते हैं) दो मुट्ठी देते हैं तो महल मिलते हैं। देखो, अभी मकान बना है, कोई ने एक रूपया भेजा – हमारी ईट लगा दो… अरे, तुमको सबसे अच्छा महल मिलेगा क्योंकि तुम गरीब हो। मैं हूँ ही गरीब निवाज़। गरीब का एक रूपया, साहूकार का 10 हज़ार। दोनों को एक ही मर्तबा मिल जाता है। साहूकार बहुत मुश्किल आते हैं। कन्यायें सबसे फ्री हैं। नम्बरवन देखो मम्मा गई। बाबा ने सब कुछ दिया फिर भी पहले लक्ष्मी फिर नारायण, कितना वन्डरफुल खेल है!

कभी भी, किसी बात में संशय नहीं होना चाहिए। जरा भी संशय नहीं लाना चाहिए। बहुत मीठा बनना है। कदम-कदम पर श्रीमत लेनी है। नहीं तो माया बहुत नुकसान करा देती है। कितने बच्चों को डायरेक्शन देने पड़ते हैं। बाबा कहते हैं पूरा समाचार लिखो। बाबा हर प्रकार की सम्भाल करेंगे। बाबा को बहुत ख्याल रहता है – कहाँ यह बच्चा चढ़ जाए। पढ़ाई पर पूरा ध्यान देना चाहिए। तुम मोस्ट बिलवेड गॉड फादरली स्टूडेन्ट हो। भगवानुवाच भी गाया हुआ है, परन्तु कृष्ण का नाम डाल दिया है। कृष्ण भी सब मनुष्यों से ऊंचा ठहरा। फर्स्ट नम्बर श्रीकृष्ण का नाम देते हैं, नारायण का क्यों नहीं? कृष्ण है छोटा सतोप्रधान। फिर युवा, वृद्ध अवस्था होती है। बालक ब्रह्म ज्ञानी समान कहते हैं। बच्चे से पाप नहीं होता है। कृष्ण का भी जन्म-दिन मनाते हैं, कृष्ण को द्वापर में ले गये हैं। यह सब बाप ही समझाते हैं।

इस समय तुम ब्राह्मण हो उत्तम। तुम हो ईश्वरीय सन्तान। सतयुग में ईश्वरीय सन्तान नहीं कहलायेंगे। ईश्वर से जरूर स्वर्ग की प्राप्ति होगी। यह है तुम्हारा अति अमूल्य दुर्लभ जीवन। सभी का तो हो नहीं सकता। यह ड्रामा ही ऐसा बना हुआ है। जो कल्प पहले पढ़े थे, वही अब पढ़ रहे हैं। भगवान ने जरूर भगवान भगवती रचे हैं। परन्तु उन्हों को हम भगवान भगवती कह नहीं सकते क्योंकि गॉड इज़ वन। उस निराकार की सारी महिमा है। साकार की थोड़ेही महिमा होती है। लक्ष्मी-नारायण को निराकार ने ऐसा बनाया। तुम भी बाप द्वारा स्वर्ग के मालिक बन रहे हो। राजयोग सीख रहे हो। बरोबर गीता में राजयोग है। जब राजाई स्थापन हुई थी तो उस समय विनाश भी हुआ था। अभी है संगम। शिवबाबा आते हैं तो खेल पूरा करते हैं। फिर कृष्ण का जन्म होता है। भक्ति मार्ग में बहुत बड़े-बड़े मन्दिर बनाते हैं। उन मन्दिरों में पदमों की मिलकियत थी। अब तो सब लोप हो गये हैं। भक्ति मार्ग के शास्त्र पढ़ते-पढ़ते, यात्रा करते-करते, मन्दिर बनाते-बनाते, खर्चा करते-करते भारत कंगाल बन पड़ा है।

अभी तुम जैसे मास्टर नॉलेजफुल हो गये हो। बाप ज्ञान का सागर, आनन्द का सागर, ब्लिसफुल है। यह सब बाप की ही महिमा है। बाप कहते हैं – भारत सबसे अच्छा तीर्थ स्थान है। परन्तु कृष्ण का नाम डालने से सारा मान खत्म कर दिया है। नहीं तो सब शिव के मन्दिर में फूल चढ़ाते। सबका सद्गति दाता एक है। आधाकल्प तुम प्रालब्ध भोग नीचे आते जाते हो, सबको तमोप्रधान बनना ही है। अब बाप कहते हैं जो बैग बैगेज हैं सब दो तो तुमको ट्रांसफर कर सतयुग में दे देंगे। हम खुद तो नहीं लेते हैं। मनुष्य तो अपने लिए करते हैं फिर कहते हैं हम निष्काम करते हैं। परन्तु निष्काम तो कोई कर नहीं सकता। हर चीज़ का फल जरूर मिलता है। मैं तो तुम बच्चों को अविनाशी ज्ञान-रत्न देता हूँ। तुम्हारे लिए ही वैकुण्ठ लाता हूँ। बच्चों को सावरन्टी का सोविनियर (सौगात) देता हूँ। तो वह लेने लिए लायक बनना चाहिए। स्वर्ग का मालिक बनना है। हथेली पर बहिश्त मिलता है। सेकण्ड में जीवन्मुक्ति अथवा सेकण्ड में बादशाही। दिव्य दृष्टि दाता शिवबाबा है। सेकण्ड में वैकुण्ठ में ले जाते हैं, इस साकार बाबा के हाथ में चाबी नहीं है। बाप कहते हैं मैं तुम बच्चों को राजाई देता हूँ। मैं राजाई नहीं करता हूँ। फिर तुम जब भक्ति मार्ग में जायेंगे तो तुमको दिव्य दृष्टि से बहलाऊंगा। कितना अच्छी रीति बाप समझाते हैं।

बाबा कल्प-कल्प, कल्प के संगम पर एक ही बार आते हैं। बाकी इतने अवतार आदि सब गपोड़े हैं। यह शास्त्र हैं ही सब भक्ति मार्ग के। वह भी बनी बनाई बन रही अब कुछ बननी नाहि। जो कुछ होता है ड्रामा में नूँध है, इसको साक्षी होकर देखो। बाबा बहुत अच्छी रीति समझाते हैं – बच्चे, मैं तुम्हारा इन्श्योर मैगनेट हूँ। तुम्हारी एक पाई भी नहीं गँवाता हूँ। कौड़ी से तुमको हीरे तुल्य बनाता हूँ। यह सब शिवबाबा करते हैं इनके द्वारा। करनकरावनहार वह है। निराकार और निरंहकारी वह है। गॉड फादर कैसे बैठ पढ़ाते हैं। ऐसे नहीं कहते हैं चरणों में पड़ो। बाप ओबीडियन्ट सर्वेन्ट है। बाप कहते हैं जिनको मालिक बनाया वह पहले बहुत सुख भोगते हैं, अब दु:खी हुए हैं। सुख भी बहुत मिलता है। कोई धर्म को इतना सुख नहीं मिलता। ऐसे नहीं कह सकते कि भारतवासियों को क्यों? औरों ने क्या किया? अरे, इतने ढेर मनुष्य हैं, सब तो नहीं आ सकते हैं। ड्रामा बना हुआ है। भारत में ही आदि सनातन देवी-देवता धर्म था। भगवान ने आकर सच्चा राजयोग सिखाया था। बाप कहते हैं मैं फिर आया हूँ। तुमने 84 जन्म पार्ट बजाया अब फिर से घर वापिस जाते हैं। यह बहुत पुराना चोला हो गया है। सर्प का मिसाल। सन्यासी फिर कहते हैं आत्मा, परमात्मा में लीन हो जाती है। ऐसी अवस्था में रहते-रहते फिर शरीर छोड़ देते हैं। परन्तु ब्रह्म में लीन तो कोई होता नहीं। लेकिन उन्हों में भी कोई-कोई बहुत तीखे होते हैं। शान्त में बैठ शरीर छोड़ देते हैं। ब्रह्म तो बाबा नहीं है। यह उन बिचारों का भ्रम है। जैसे हिन्दुओं का यह भ्रम है कि हम हिन्दू धर्म के हैं। अरे, हिन्दू धर्म कहाँ से आया? वह तो हिन्दुस्तान का नाम है। सतयुग में एक ही धर्म था। अब तो देखो कितने धर्म हैं! कितनी भाषायें हैं! वहाँ तो भाषा ही एक होती है। कहते हैं वन गवर्मेन्ट हो परन्तु सभी गवर्मेन्ट वन कैसे होगी। ब्रदरहुड भी नहीं समझते, सर्वव्यापी कह देते तो फादर हुड हो गया फिर खुद फादर कह कर किसको बुलायेंगे। यह भी समझ की बात है ना। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) किसी का भी अवगुण नहीं देखना है। एक शिवबाबा से कनेक्शन रख उनकी जो श्रीमत मिलती है उसे राइट समझ चलते रहना है। श्रीमत में कभी संशय नहीं उठाना है।

2) अपने तन-मन-धन को पूरा इन्श्योर करना है। कदम-कदम पर श्रीमत लेनी है। पढ़ाई पर भी पूरा ध्यान देना है।

वरदान:- नेचुरल अटेन्शन वा अभ्यास द्वारा नेचर को परिवर्तन करने वाले सिद्धि स्वरूप भव
आप सबके निज़ी संस्कार अटेन्शन के हैं। जब टेन्शन रखना आता है तो अटेन्शन रखना क्या बड़ी बात है। तो अब अटेन्शन का भी टेन्शन न हो लेकिन नेचुरल अटेन्शन हो। आत्मा को न्यारा होने का नेचुरल अभ्यास है। न्यारी थी, न्यारी है फिर न्यारी बनेंगी। जैसे अभी वाणी में आने का अभ्यास पक्का हो गया है, ऐसे वाणी से परे, न्यारे होने का अभ्यास भी नेचुरल हो जाये तो न्यारेपन के शक्तिशाली वायब्रेशन द्वारा सेवा में सहज सिद्धि को प्राप्त करेंगे और यह नेचरल अभ्यास नेचर को भी बदल देगा।
स्लोगन:- अशरीरी-पन की एक्सरसाइज और व्यर्थ संकल्पों के भोजन की परहेज करो तो एवरहेल्दी रहेंगे।
Font Resize