23 july ki murli

TODAY MURLI 23 JULY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 23 July 2020

23/07/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, this life of yours is very, very valuable because you are now serving the world according to shrimat. You are making this hell into heaven.
Question: What is the reason why your happiness disappears and how can you resolve that?
Answer: Your happiness disappears: 1. When you become body conscious 2. When you have doubts in your heart. This is why Baba advises you: Whenever any doubt arises, instantly ask Baba about it. Practise being soul conscious and you will remain constantly happy.

Om shanti. God is the Highest on High. God speaks in front of His children: I make you the highest on high. Therefore, you children should experience so much happiness. You understand that Baba is making you into the masters of the whole world. Human beings say: The Supreme Father, the Supreme Soul, is the Highest on High. The Father Himself says: I do not become the master of the world. God speaks: Human beings say: Godis the Highest on High, whereas I say, My children are the highest on high. He proves this to you. He inspires you to make effort, according to the drama, as He did in the previous cycle. The Father continues to explain: If you don’t understand something, then ask about it. Human beings don’t know anything at all. They neither know what this world is nor what Paradise is. No matter how many lords and Mugal (kings) etc. have been and gone, no matter how much wealth Americans have, no one could be as wealthy as Lakshmi and Narayan. In America they have built The White House etc., but there will be a golden house there studded with diamonds and jewels. That is called the land of happiness. Only you perform the parts of heroes and heroines. You become diamonds. It used to be the golden age and it is now the iron age. The Father says: You are so fortunate. God Himself sits here and explains to you. Therefore, you should remain so happy. This study of yours is for the new world. This life of yours is most valuable because you are serving the world. People call out to the Father: Come and make hell into heaven. People speak of Heavenly God, the Father. The Father says: You were in heaven, were you not? You are now in hell. Then you will be in heaven again. When hell begins, you forget the things of heaven. This will happen again; from the golden age, you definitely have to go to the iron age. Baba repeatedly tells you children: Whenever you have any doubt in your heart due to which your happiness disappears, tell Baba about it. The Father sits here and teaches you. Therefore, you should study, should you not? It is because you become body conscious that you don’t have that happiness. There should be happiness, should there not? The Father is only the Master of Brahmand, whereas you become the masters of the world. Although the Father is called the Creator, it isn’t that annihilation takes place and that He then creates the new world; no. The Father says: I simply make the old world new. I make you into the masters of the new world and inspire the destruction of the old world. I do not do anything. This too is fixed in the drama. You invite Me to come into the old world. I make you into lords of divinity. So, although you children go to the land of divinity yourselves, you never invite Me there. Do you ever invite Me and say: Baba come and visit the land of divinity? You never invite Me there. It is said: Everyone remembers God at the time of sorrow in the impure world. When they have happiness, no one remembers Him. Neither do they remember Me, nor do they invite Me. In the copper age they simply build temples to Me and place images of Me there. If not of stone, they create a lingam of diamonds and place it there in order to worship Me. These are such wonderful things! Listen to this very well with your ears wide open. Your ears also have to be purified. There has to be purity first. It is said: The milk of a lioness can only be stored in a golden vessel. Here, too, when there is purity, you will be able to imbibe knowledge. The Father says: Lust is the greatest enemy and it has to be conquered. This is your last birth. You also know that this is the same Mahabharat War. Destruction takes place every cycle and it will happen identically now too, according to the drama. You children have to build your own palaces in heaven once again, exactly as you did in the previous cycle. Heaven is also called Paradise. The word “Paradise” has been taken from the Puranas (scriptures). They say that fairies used to live in Mansarovar (magic lake) and that anyone who took a dip in that lake would become a fairy. In fact, it is the Gyan Mansarovar (Lake of Knowledge). By taking a dip in that, you become completely transformed. A beautiful person is called a fairy. It isn’t that a fairy is someone with wings. Just as you call the Pandavas “Mahavirs”, so those people have created very large images of the Pandavas and their caves etc. They waste so much money on the path of devotion. The Father says: I made you children so wealthy! What did you do with all of that wealth? Bharat used to be so wealthy. Look what the condition of Bharat has now become! Those who were 100% solvent have now become 100% insolvent. You children should now make so many preparations. You should explain to the children: Remember Shiv Baba and you will become like Krishna. No one knows how Krishna became Krishna. He became Krishna by remembering Shiv Baba in his previous birth. Therefore, you children should remain so happy. However, only those who constantly serve others can experience limitless happiness. The main thing is that your dharna, your behaviour, should be very, very royal. Your food and drink should be very good. Whoever comes to you children should be served in every way: physically as well as spiritually. When you serve them both spiritually and physically, you will experience great happiness. Tell whoever comes the true story of the true Narayan. In the scriptures they have written so many stories. They say: Brahma emerged from the navel of Vishnu. They have also shown scriptures in Brahma’s hand. Now, how could Brahma emerge from Vishnu’s navel? This is such a deep secret! No one else can understand this. There is no question of anyone emerging from a navel. Brahma becomes Vishnu and Vishnu becomes Brahma; it takes a second for Brahma to become Vishnu. It is said: “Liberation-in-life in a second.” The Father granted me a vision and said: You will become the form of Vishnu. I had faith in a second. I also had a vision of destruction. Otherwise, I was living in royal splendour in Calcutta. I had no difficulty and was living in great royalty. The Father is now teaching you the business of the jewels of knowledge. That business was nothing compared to this business. However, there is a difference between this one’s part and your parts. When Baba entered him, he instantly renounced everything. The bhatthi had to be created. You also renounced everything. You crossed the river and came to the bhatthi. Look what happened, but you weren’t concerned about anyone else. It is said that Krishna abducted women. Why? To make them into queens. This bhatthi was created to make you children into empresses of heaven. So many stories have been written in the scriptures. However, you now understand what actually happens in practicalterms. There is no question of abducting anyone. He was insulted in the previous cycle too and his name was also defamed. This is the drama. Whatever takes place happens exactly as it did in the previous cycle. You understand very clearly that those who claimed the kingdom in the previous cycle will definitely come. The Father says: I too come every cycle and make Bharat into heaven. The full calculation of 84 births is shown. In the golden age, you remain immortal; there is no untimely death there. Shiv Baba inspires you to conquer death. He says: I am the Death of all Deaths. There are also devotional stories about that. You conquer death. You are now going to the land of immortality. In order to attain a high status in the land of immortality you first have to become pure and, secondly, you have to imbibe divine virtues. Keep a daily chart for yourself. You experience, a loss through Ravan and a profit through Me. Businessmen would understand these things very well. These are the jewels of knowledge. Scarcely any businessmen would do business with that One. You have come here to do business. Some do business very well and claim the deal of heaven for 21 births. It isn’t even only for 21 births, but you remain very happy for 50 to 60 births. You become multimillionaires. Lotus flowers have been shown at the feet of the deities. No one understands the meaning of that. You are now becoming multimillionaires. Therefore you should experience so much happiness! The Father says: I am so ordinary. I have come to take you children to heaven. You call out to Me: O Purifier, come! Come and purify us. Pure human beings reside in the land of happiness. There cannot be any history or geography of the land of peace. That is the tree of souls. There is no question of the subtle region. However, you now understand how the world cycle turns. There was the dynasty of Lakshmi and Narayan in the golden age. It isn’t that only one Lakshmi and Narayan rule there. The population does grow. Then, in the copper age, those who had been worthy of worship become worshippers. People then say to God: “You are worthy of worship and a worshipper” just as they say that God is omnipresent. You understand these things. For half a cycle you have been saying that God is the Highest on High. Now God says to you: You children are the highest on high. Therefore, you should follow the advice of such a Father, should you not? You also have to look after your households. Not everyone can stay here. If everyone were to stay here, such a big building would have to be built. One day you will see such a long queue forming here, from the bottom to the top, just to have a glimpse. When someone is unable to have a glimpse, he starts being abusive. He wants to have a glimpse of the mahatma. However, that One is the Father of the children and He only teaches His children. Some of those to whom you show the path continue to move along very well, whereas others are unable to imbibe anything. So many listen to all of this and then leave everything behind when they go outside. There isn’t that happiness; neither is there study nor is there yoga. Baba tells you so often to keep a chartOtherwise, there will be a lot of repentance. Check your chart to see how much you remember Baba. There is a lot of praise of the ancient yoga of Bharat. The Father explains: If you don’t understand something, ask Baba about it. Previously, you didn’t know anything. Baba says: This is a forest of thorns. Lust is the greatest enemy. These words are mentioned in the Gita itself. People used to study the Gita, but they did not understand the meaning of it. Baba studied the Gita throughout his whole life. He used to believe that the message in the Gita was very elevated. On the path of devotion there is so much respect for the Gita. There are large Gitas and also small Gitas. Those same pictures of Shri Krishna and other deities can be bought for a few paisas. Huge temples are then created with those pictures. The Father explains: You have to become beads of the rosary of victory. Say to such a sweetest Baba, “Baba, Baba!” Some of you understand that Baba gives you the sovereignty of heaven, but then the same ones become those who are amazed on hearing the knowledge, they speak the knowledge and then Maya makes them divorce Baba and run away. When you say “Baba”, then “Baba” means “Baba”! On the path of devotion, too, it is remembered: He is the Husband of all husbands. There is only the one Guru of all gurus. He is our Father. He is the Ocean of Knowledge, the Purifier. You children say: Baba, we have been claiming our inheritance from You every cycle. We meet You every cycle. We will definitely receive our unlimited inheritance from You, our unlimited Father. The main thing is Alpha. Then beta, the kingdom, is merged in that. “Baba” implies an inheritance. That is limited whereas this is unlimited. There are many limited Babas, but only the one unlimited Father. Achcha.

To the sweetest children who have come and met Me again after 5000 years, love, remembrance and good morning from BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Do physical and subtle service and experience limitless happiness and also give others this experience. Have great royalty in your behaviour and your food and drink.
  2. In order to claim a high status in the land of immortality, become pure and also imbibe divine virtues. Check your chart to see how much you remember Baba. Check that you are accumulating an imperishable income for yourself. Make your ears pure so that you are able to imbibe everything.
Blessing: May you constantly be fearless conquerors of Maya who observe the games of Maya as detached observers.
From time to time, the stage of you children progresses. Similarly, let there now not be any attack of Maya. Let Maya come to salute you, not to attack you. Even if Maya does come, observe her as though in a game. Experience her as though you are watching a limited game as a detached observer. No matter how fearsome the form of Maya is, if you see her as a toy in a game, you will have great pleasure. You won’t then be afraid of her. The children who, as players, observe the games of Maya as detached observers, remain constantly fearless and become conquerors of Maya.
Slogan: Become such an ocean of love that anger cannot come close to you.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 23 JULY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 23 July 2020

Murli Pdf for Print : – 

23-07-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – यह तुम्हारा जीवन बहुत-बहुत अमूल्य है, क्योंकि तुम श्रीमत पर विश्व की सेवा करते हो, इस हेल को हेविन बना देते हो”
प्रश्नः- खुशी गायब होने का कारण तथा उसका निवारण क्या है?
उत्तर:- खुशी गायब होती है – (1) देह-अभिमान में आने के कारण, (2) दिल में जब कोई शंका पैदा हो जाती है तो भी खुशी गुम हो जाती है इसलिए बाबा राय देते हैं, जब भी कोई शंका उत्पन्न हो तो फौरन बाबा से पूछो। देही-अभिमानी रहने का अभ्यास करो तो सदैव खुश रहेंगे।

ओम् शान्ति। ऊंच ते ऊंच भगवान और फिर भगवानुवाच, बच्चों के आगे। मैं तुमको ऊंच ते ऊंच बनाता हूँ तो तुम बच्चों को कितनी खुशी होनी चाहिए। समझते भी हो बाबा हमको सारे विश्व का मालिक बनाते हैं। मनुष्य कहते परमपिता परमात्मा ऊंच ते ऊंच है। बाप खुद कहते हैं – मैं तो विश्व का मालिक बनता नहीं हूँ। भगवानुवाच – मुझे मनुष्य कहते हैं ऊंच ते ऊंच भगवान और मैं कहता हूँ कि मेरे बच्चे ऊंच ते ऊंच हैं। सिद्धकर बताते हैं। पुरूषार्थ भी ड्रामा अनुसार कराते हैं, कल्प पहले मुआफिक। बाप समझाते रहते हैं, कुछ भी बात न समझो तो पूछो। मनुष्यों को तो कुछ भी पता नहीं है। दुनिया क्या है, वैकुण्ठ क्या है। भल कितने भी कोई नवाब, मुगल आदि होकर गये हैं, भल अमेरिका में कितने भी पैसे वाले हैं परन्तु इन लक्ष्मी-नारायण जैसे तो हो न सकें। वह तो व्हाईट हाउस आदि बनाते हैं परन्तु वहाँ तो रत्न जड़ित गोल्डन हाउस बनते हैं। उसको कहा ही जाता है सुखधाम। तुम्हारा ही हीरो-हीरोइन का पार्ट है। तुम डायमण्ड बनते हो। गोल्डन एज थी। अब है आइरन एज। बाप कहते हैं तुम कितने भाग्यशाली हो। भगवान खुद बैठ समझाते हैं तो तुमको कितना खुश रहना चाहिए। तुम्हारी यह पढ़ाई है ही नई दुनिया के लिए। यह तुम्हारा जीवन बहुत अमूल्य है क्योंकि तुम विश्व की सर्विस करते हो। बाप को बुलाते ही हैं कि आकर हेल को हेविन बनाओ। हेविनली गॉड फादर कहते हैं ना। बाप कहते हैं – तुम हेविन में थे ना, अब हेल में हो। फिर हेविन में होंगे। हेल शुरू होता है, तो फिर हेविन की बातें भूल जाती हैं। यह तो फिर भी होगा। फिर भी तुमको गोल्डन एज से आइरन एज में जरूर आना है। बाबा बार-बार बच्चों को कहते हैं दिल में कोई भी शंका हो, जिससे खुशी नहीं रहती तो बताओ। बाप बैठ पढ़ाते हैं तो पढ़ना भी चाहिए ना। खुशी नहीं रहती है क्योंकि तुम देह-अभिमान में आ जाते हो। खुशी तो होनी चाहिए ना। बाप तो सिर्फ ब्रह्माण्ड का मालिक है, तुम तो विश्व के भी मालिक बनते हो। भल बाप को क्रियेटर कहा जाता है परन्तु ऐसे नहीं कि प्रलय हो जाती है फिर नई दुनिया रचते हैं। नहीं, बाप कहते हैं मैं सिर्फ पुरानी को नया बनाता हूँ। पुरानी दुनिया विनाश कराता हूँ। तुमको नई दुनिया का मालिक बनाता हूँ। मैं कुछ करता नहीं हूँ। यह भी ड्रामा में नूँध है। पतित दुनिया में ही मुझे बुलाते हैं। पारसनाथ बनाता हूँ। तो बच्चे खुद पारसपुरी में आ जाते हैं। वहाँ तो मुझे कभी बुलाते ही नहीं हैं। कभी बुलाते हो कि बाबा पारसपुरी में आकर थोड़ी विजिट तो लो? बुलाते ही नहीं। गायन भी है दु:ख में सिमरण सब करें, पतित दुनिया में याद करते हैं, सुख में करे न कोई। न याद करते हैं, न बुलाते हैं। सिर्फ द्वापर में मन्दिर बनाकर उसमें मुझे रख देते हैं। पत्थर का नहीं तो हीरे का लिंग बनाकर रख देते हैं – पूजा करने के लिए, कितनी वन्डरफुल बातें हैं। अच्छी तरह से कान खोलकर सुनना चाहिए। कान भी प्योर करना चाहिए। प्योरिटी फर्स्ट। कहते हैं शेरणी का दूध सोने के बर्तन में ही ठहर सकता है। इसमें भी पवित्रता होगी तो धारणा होगी। बाप कहते हैं काम महाशत्रु है, इन पर विजय पानी है। तुम्हारा यह अन्तिम जन्म है। यह भी तुम जानते हो, यह वही महाभारत लड़ाई भी है। कल्प-कल्प जैसे विनाश हुआ है, हूबहू अब भी होगा, ड्रामा अनुसार।

तुम बच्चों को स्वर्ग में फिर से अपने महल बनाने हैं। जैसे कल्प पहले बनाये थे। स्वर्ग को कहते ही हैं पैराडाइज। पुराणों से पैराडाइज अक्षर निकला है। कहते हैं मानसरोवर में परियाँ रहती थी। उसमें कोई टुबका लगाये तो परी बन जाये। वास्तव में है ज्ञान मानसरोवर। उसमें तुम क्या से क्या बन जाते हो। शोभनिक को परी कहते हैं, ऐसे नहीं पंखों वाली कोई परी होती है। जैसे तुम पाण्डवों को महावीर कहा जाता है, उन्होंने फिर पाण्डवों के बहुत बड़े-बड़े चित्र, गुफायें आदि बैठ दिखाई हैं। भक्ति मार्ग में कितने पैसे बरबाद करते हैं। बाप कहते हैं हमने तो बच्चों को कितना साहूकार बनाया। तुमने इतने सब पैसे कहाँ किये। भारत कितना साहूकार था। अभी भारत का क्या हाल है। जो 100 परसेन्ट सालवेन्ट था, अब 100 परसेन्ट इनसालवेन्ट बन पड़ा है। अभी तुम बच्चों को कितनी तैयारी करनी चाहिए। बच्चों आदि को भी यही समझाना है कि शिवबाबा को याद करो। तुम कृष्ण जैसे बनेंगे। कृष्ण कैसे बना, यह किसको पता थोड़ेही है। आगे जन्म में शिवबाबा को याद करने से ही कृष्ण बना। तो तुम बच्चों को कितनी खुशी रहनी चाहिए। लेकिन अपार खुशी उन्हें ही रहेगी जो सदा दूसरों की खिदमत (सेवा) में रहते हैं। मुख्य धारणा चलन बहुत-बहुत रॉयल हो। खान-पान बहुत सुन्दर हो। तुम बच्चों के पास जब कोई आते हैं तो उनकी हर प्रकार से खिदमत करनी चाहिए। स्थूल भी तो सूक्ष्म भी। जिस्मानी-रूहानी दोनों करने से बहुत खुशी होगी। कोई भी आये तो उनको तुम सच्ची सत्य नारायण की कहानी सुनाओ। शास्त्रों में तो क्या-क्या कहानियाँ लिख दी हैं। विष्णु की नाभी से ब्रह्मा निकला फिर ब्रह्मा के हाथ में शास्त्र दे दिये हैं। अब विष्णु की नाभी से ब्रह्मा कैसे निकलते हैं, कितना राज़ है। और कोई इन बातों को कुछ समझ न सके। नाभी से निकलने की तो बात ही नहीं है। ब्रह्मा सो विष्णु, विष्णु सो ब्रह्मा बनते हैं। ब्रह्मा को विष्णु बनने में सेकण्ड लगता है। सेकण्ड में जीवनमुक्ति कहा जाता है। बाप ने साक्षात्कार कराया तुम विष्णु का रूप बनते हो। सेकण्ड में निश्चय हो गया। विनाश साक्षात्कार भी हुआ, नहीं तो कलकत्ता में जैसे राजाई ठाठ से रहते थे। कोई तकलीफ नहीं थी। बड़ा रॉयल्टी से रहते थे। अब बाप तुम्हें यह ज्ञान रत्नों का व्यापार सिखलाते हैं। वह व्यापार तो इनके आगे कुछ भी नहीं है। परन्तु इनके पार्ट और तुम्हारे पार्ट में फ़र्क है। बाबा ने इनमें प्रवेश किया और फट से सब छोड़ दिया। भट्ठी बननी थी। तुमने भी सब कुछ छोड़ा। नदी पार कर आए भट्ठी में पड़े। क्या-क्या हुआ, कोई की परवाह नहीं। कहते हैं कृष्ण ने भगाया! क्यों भगाया? उन्हों को पटरानी बनाने। यह भट्ठी भी बनी, तुम बच्चों को स्वर्ग की महारानी बनाने के लिए। शास्त्रों में तो क्या-क्या लिख दिया है, प्रैक्टिकल में क्या-क्या है। सो अब तुम समझते हो। भगाने की बात ही नहीं। कल्प पहले भी गाली मिली थी। नाम बदनाम हुआ था। यह तो ड्रामा है, जो कुछ होता है कल्प पहले मुआफिक।

अभी तुम अच्छी रीति जानते हो कल्प पहले जिन्होंने राज्य लिया है वह जरूर आयेंगे। बाप कहते हैं मैं भी कल्प-कल्प आकर भारत को स्वर्ग बनाता हूँ। पूरा 84 जन्मों का हिसाब बताया है। सतयुग में तुम अमर रहते हो। वहाँ अकाले मृत्यु होती नहीं। शिवबाबा काल पर जीत पहनाते हैं। कहते हैं मैं कालों का काल हूँ। कथायें भी हैं ना। तुम काल पर विजय पाते हो। तुम जाते हो अमरलोक में। अमरलोक में ऊंच पद पाने के लिए एक तो पवित्र बनना है, दूसरा फिर दैवीगुण भी धारण करने हैं। अपना रोज़ पोतामेल रखो। रावण द्वारा तुमको घाटा पड़ा है। मेरे द्वारा फायदा होता है। व्यापारी लोग इन बातों को अच्छी रीति समझेंगे। यह हैं ज्ञान रत्न। कोई विरला व्यापारी इनसे व्यापार करे। तुम व्यापार करने आये हो। कोई तो अच्छी रीति व्यापार कर स्वर्ग का सौदा लेते हैं – 21 जन्म के लिए। 21 जन्म भी क्या 50-60 जन्म तुम बहुत सुखी रहते हो। पद्मपति बनते हो। देवताओं के पैर में पद्म दिखाते हैं ना। अर्थ थोड़ेही समझते हैं। तुम अभी पद्मपति बन रहे हो। तो तुमको कितनी खुशी होनी चाहिए। बाप कहते हैं मैं कितना साधारण हूँ। तुम बच्चों को स्वर्ग में ले जाने आया हूँ। बुलाते भी हो हे पतित-पावन आओ, आकर पावन बनाओ। पावन रहते ही हैं सुखधाम में। शान्तिधाम की कोई हिस्ट्री-जॉग्राफी तो हो नहीं सकती। वह तो आत्माओं का झाड़ है। सूक्ष्मवतन की कोई बात ही नहीं। बाकी यह सृष्टि चक्र कैसे फिरता है वह तुम जान गये हो। सतयुग में लक्ष्मी-नारायण की डिनायस्टी थी। ऐसे नहीं, एक ही लक्ष्मी-नारायण सिर्फ राज्य करते हैं। वृद्धि तो होती है ना। फिर द्वापर में वही पूज्य सो फिर पुजारी बनते हैं। मनुष्य फिर परमात्मा के लिए कह देते आपेही पूज्य। जैसे परमात्मा के लिए सर्वव्यापी कह देते हैं, इन बातों को तुम समझते हो। आधाकल्प तुम गाते आये हो ऊंच ते ऊंच भगवान और अब भगवानुवाच – ऊंच ते ऊंच बच्चे हो। तो ऐसे बाप की राय पर भी चलना चाहिए ना। गृहस्थ व्यवहार भी सम्भालना है। यहाँ तो सब रह न सकें। सब रहने लगें तो कितना बड़ा मकान बनाना पड़े। यह भी तुम एक दिन देखेंगे कि नीचे से ऊपर तक कितनी बड़ी क्यू लग जाती है, दर्शन करने के लिए। कोई को दर्शन नहीं होता है तो गाली भी देने लग पड़ते हैं। समझते हैं महात्मा का दर्शन करें। अभी बाप तो है बच्चों का। बच्चों को ही पढ़ाते हैं। तुम जिसको रास्ता बताते हो कोई तो अच्छी रीति चल पड़ते हैं, कोई धारणा कर नहीं सकते, कितने हैं जो सुनते भी रहते फिर बाहर में जाते हैं तो वहाँ के वहाँ रह जाते, वह खुशी नहीं, पढ़ाई नहीं, योग नहीं। बाबा कितना समझाते हैं, चार्ट रखो। नहीं तो बहुत पछताना पड़ेगा। हम बाबा को कितना याद करते हैं, चार्ट देखना चाहिए। भारत के प्राचीन योग की बहुत महिमा है। तो बाप समझाते हैं – कोई भी बात नहीं समझो तो बाबा से पूछो। आगे तुम कुछ भी नहीं जानते थे। बाबा कहते हैं यह है कांटों का जंगल। काम महाशत्रु है। यह अक्षर खुद गीता के हैं। गीता पढ़ते थे परन्तु समझते थोड़ेही थे। बाबा ने सारी आयु गीता पढ़ी। समझते थे – गीता का महात्म बहुत अच्छा है। भक्ति मार्ग में गीता का कितना मान है। गीता बड़ी भी होती है, छोटी भी होती है। कृष्ण आदि देवताओं के वही चित्र पैसे-पैसे में मिलते रहते हैं, उन्हीं चित्रों के फिर कितने बड़े-बड़े मन्दिर बनाते हैं। तो बाप समझाते हैं तुमको तो विजय माला का दाना बनना है। ऐसे मीठे-मीठे बाबा को बाबा-बाबा भी कहते हैं। समझते भी हैं स्वर्ग की राजाई देते हैं फिर भी सुनन्ती, कथन्ती अहो माया फारकती देवन्ती। बाबा कहा तो बाबा माना बाबा। भक्तिमार्ग में भी गाया जाता है पतियों का पति, गुरूओं का गुरू एक ही है। वह हमारा फादर है। ज्ञान का सागर पतित-पावन है। तुम बच्चे कहते हो बाबा हम कल्प-कल्प आपसे वर्सा लेते आये हैं। कल्प-कल्प मिलते हैं। आप बेहद के बाप से हमको जरूर बेहद का वर्सा मिलेगा। मुख्य है ही अल्फ। उसमें बे मर्ज है। बाबा माना वर्सा। वह है हद का, यह है बेहद का। हद के बाबा तो ढेर के ढेर हैं। बेहद का बाप तो एक ही है। अच्छा।

मीठे-मीठे 5 हज़ार वर्ष बाद फिर से आकर मिलने वाले बच्चों प्रति बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) स्थूल, सूक्ष्म खिदमत (सेवा) कर अपार खुशी का अनुभव करना और कराना है। चलन और खान-पान में बहुत रॉयल्टी रखनी है।

2) अमरलोक में ऊंच पद पाने के लिए पवित्र बनने के साथ-साथ दैवीगुण भी धारण करने हैं। अपना पोतामेल देखना है कि हम बाबा को कितना याद करते हैं? अविनाशी ज्ञान रत्नों की कमाई जमा कर रहे हैं? कान प्योर बने हैं जिसमें धारणा हो सके?

वरदान:- माया के खेल को साक्षी होकर देखने वाले सदा निर्भय, मायाजीत भव
समय प्रति समय जैसे आप बच्चों की स्टेज आगे बढ़ती जा रही है, ऐसे अब माया का वार नहीं होना चाहिए, माया नमस्कार करने आये वार करने नहीं। यदि माया आ भी जाए तो उसे खेल समझकर देखो। ऐसे अनुभव हो जैसे साक्षी होकर हद का ड्रामा देखते हैं। माया का कैसा भी विकराल रूप हो आप उसे खिलौना और खेल समझकर देखेंगे तो बहुत मजा आयेगा, फिर उससे डरेंगे वा घबरायेंगे नहीं। जो बच्चे सदा खिलाड़ी बनकर साक्षी हो माया का खेल देखते हैं वह सदा निर्भय वा मायाजीत बन जाते हैं।
स्लोगन:- ऐसा स्नेह का सागर बनो जो क्रोध समीप भी न आ सके।

TODAY MURLI 23 JULY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 23 July 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 22 July 2019:- Click Here

23/07/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, it is only by having remembrance that the battery will be charged, you will receive power and the soul will become satopradhan. Therefore, pay special attention to the pilgrimage of remembrance.
Question: What are the signs of the children who have love for the one Father?
Answer: 1) If you have love for the one Father, the Father’s vision will take you beyond with just a glance. 2) You will be a complete destroyer of attachment. 3) Those who appreciate the love of the unlimited Father cannot become trapped in the love of anyone else. 4) Their intellects have broken away from false human beings of the land of falsehood. The Father gives you such love now that it becomes imperishable. You will then live with a lot of love for each other in the golden age.

Om shanti. You children receive the love of the unlimited Father now, only once, and you also remember this love a great deal on the path of devotion. Baba, all I want is Your love. You are the Mother and Father! You are my everything! You receive love for half the cycle from just the One. The praise of this spiritual love of yours is limitless. It is the Father who makes you children into the masters of the land of peace. You are now in the land of sorrow. Everyone is crying out in sorrow and peacelessness. No one has the Lord and Master to belong to, and this is why they remember Him on the path of devotion. However, according to the law, there is a fixed period of half the cycle for the path of devotion. It has been explained to you children that it isn’t that the Father is antaryami (one who knows what is inside each one). The Father doesn’t need to know what is inside each one. You have thought readers for that. They learn that skill. It is not like that here. The Father comes here. It is the Father and the children who play their whole partsThe Father knows how the cycle of the world turns and how the children play their parts within it. It isn’t that He knows what is inside each one. It was explained to you last night too that there are only vices inside each one. Human beings are very dirty and the Father comes and makes you into beautiful flowers. Only once do you children receive the Father’s love and it becomes imperishable. There, you have a lot of love for one another. You are now becoming conquerors of attachment. The kingdom of the golden age is said to be the kingdom of the king, queen and subjects who conquered attachment. No one ever cries there; there is no mention of sorrow. You children know that there truly was healthwealth and happiness in Bharat. That doesn’t exist now because it is the kingdom of Ravan. Everyone in it experiences sorrow and so they remember the Father: Come and give us happiness and peace and have mercy for us! The unlimited Father is merciful. Ravan is merciless; he shows you the path of sorrow. All human beings are following the path of sorrow. The vice of lust gives the greatest sorrow of all. This is why the Father says: Sweetest children, conquer the vice of lust and you will become conquerors of the world. This Lakshmi and Narayan are called the conquerors of the world. You have your aim and objective standing in front of you. Although people go to temples, they don’t know the biography of any of them. It is as though they are worshipping dolls. They worship the goddesses. They create them, decorate them and feed them bhog etc., but those goddesses do not eat anything. It is the Brahmin priests who eat all of that. They create them, sustain them and then destroy them. That is called blind faith. Those things do not exist in the golden age. All of those customs and systems emerge in the iron age. You first of all worship one Shiv Baba alone and that is called unadulterated, righteous worship. Then, there is adulterated worship. By using the word “Baba” you receive the fragrance of a family. You too say: You are the Mother and Father… By Your mercy of giving us knowledge, we receive a lot of happiness. Your intellects remember that you were previously in the incorporeal world. From there, you came here, and took bodies to play your parts. At first we take divine costumes, that is, we are called deities. Then we go into the warrior, merchant and shudra clans and play our various parts. You didn’t know these things previously. Baba has now come and given you children the knowledge of the beginning, middle and end. He has also given you His own knowledge of how He enters this body. This one didn’t know his 84 births. You didn’t know them either. The secret of Shyam-Sundar has been explained to you. This Shri Krishna is the first prince of the new world and Radhe is the second number. There is a difference of a few years. At the beginning of the world, this one is said to be the first number. This is why everyone loves Krishna. He alone is called Shyam-Sundar. In heaven, all are beautiful, but where is heaven now? The cycle continues to turn. It isn’t that it goes beneath the sea in the way that they say Lanka and Dwaraka went down below; no. This cycle continues to turn. By knowing this cycle, you become emperors and empresses, rulers of the globe, masters of the world. Even the subjects consider themselves to be masters. They say that it is their kingdom. The people of Bharat say: It is our kingdom. It is called Bharat. The name Hindustan is wrong. In fact, there is just the original eternal deity religion. However, because they have become corrupt in their religion and action, they cannot call themselves deities. This too is fixed in the drama. Otherwise, how would the Father come and establish the deity religion once again? Previously, you didn’t know about these things, but the Father has now come and explained to you. He is such a sweet Baba and yet you forget Him! Baba is the sweetest of all. However, everyone in the kingdom of Ravan gives you nothing but sorrow. This is why you remember the unlimited Father. All of you are devotees and shed tears of love in remembrance of Him while saying: O Beloved, when will You come and meet the brides? The Husband of all the devotees is God. God comes and gives you the fruit of your devotion. He shows you the path and explains: This is a play of 5000 years. No human being knows the Creator or the beginning, middle and end of creation. Only the spiritual Father and the spiritual children know this. No human beings know this. Even the deities do not know it. Only the spiritual Father knows this. He sits here and explains to His children. No bodily being can have the knowledge of the Creator or the beginning, middle and end of creation. Only the spiritual Father has this knowledge. He alone is called Gyan-gyaneshwar. Gyan-gyaneshwar gives you knowledge in order to make you raj-rajeshwar (kings of kings). This is why this is called Raj Yoga. All the rest is hatha yoga. There are many images of those hatha yogis. Later on, when the sannyasis come, they teach hatha yoga. They teach hatha yoga etc. when there is a lot of expansion. The Father has explained: I only come at the confluence age. I come and establish the kingdom. He carries out establishment here, not in the golden age. The kingdom is there at the beginning of the golden age. Therefore, establishment surely takes place at the confluence age. Here, in the iron age, all are worshippers whereas in the golden age, all are worthy of worship. The Father comes here to make you worthy of worship. It is Ravan who makes you into worshippers. You have to know all of these things. This is the highest of all studies. No one knows that Teacher. That One is the Supreme Father, Teacher and Satguru. No one knows this. The Father comes alone and gives His full introduction. He Himself teaches you children and then takes you back with Him. You receive love from the unlimited Father and so you don’t like the love of anyone else. At this time, it is the land of falsehood. Maya is false, bodies are false and the whole world is false. Bharat is now the land of falsehood and then, in the golden age, it will be the land of truth. Bharat is never destroyed. This is the greatest pilgrimage place of all where the unlimited Father comes and explains the secrets of the beginning, middle and end of the world to you children and He grants you all salvation. This is a very great pilgrimage place. The praise of Bharat is limitless. However, only you can understand that Bharat is the wonder of the world. Those are the seven wonders of Maya. There is only one wonder of God. The Father is One and His wonderful heaven is just one. That is called heaven, Paradise. It only has one real name and that is heaven. This is hell. Only you Brahmins go all around the whole cycle. We are Brahmins and then we become deities. There is the stage of ascent and then the stage of descent. There is benefit for everyone due to the stage of ascent. It is the people of Bharat alone who want there to be peace as well as happiness in the world. In heaven, there is just happiness; there is no mention of sorrow. That is called the Godly kingdom. In the golden age there is the sun dynasty and there is then the moon dynasty in the second grade. You are theists and they are atheists. You belong to the Lord and Master and make effort to claim the inheritance from the Father. You have incognito battles with Maya. The Father comes in the night. There is Shiv Ratri, the Night of Shiva, but people don’t understand the meaning of the Night of Shiva. The night of Brahma comes to an end and the day begins. They speak of the versions of God Krishna whereas these are the versions of God Shiva. Now, who is right? Krishna is the one who takes the full 84 births. The Father says: I come and enter an ordinary old body. He doesn’t know his own births either. When he becomes impure at the end of many births, I come into the impure world and enter an impure kingdom. In the impure world there are many kingdoms whereas in the pure world there is just the one kingdom. There is the account. When they do intense devotion on the path of devotion and are about to have their heads cut off their desires are fulfilled. However, there is nothing in that. That is called intense devotion. Since the time that the kingdom of Ravan began people have been studying the paraphernalia of devotion and have continued to come down. They say that God Vyas created the scriptures. Look what they have written! You children have now understood the secrets of knowledge and devotion. All of these explanations are in the pictures of the ladder and the tree. The 84 births are also shown in them. Not everyone takes 84 births. Only those who come at the beginning take the full 84 births. Only at this time do you receive this knowledge. Then it becomes your source of income. For 21 births you do not lack anything for which you would have to make effort to attain. That is referred to as the one heaven of the Father, the wonder of the world. Its very name is Paradise. The Father makes you into the masters of that. Those people simply show those wonders, but the Father is making you into the masters of that. This is why the Father now says: Constantly remember Me alone. Attain happiness by remembering Me at every moment and all your pain and suffering of the body will be removed and you will attain the status of liberation-in-life. In order to become pure, it is essential for you to have the pilgrimage of remembrance. Become “Manmanabhav” and your final thoughts will lead you to your destination. The land of peace is referred to as liberation, whereas salvation is received here. Against salvation, there is degradation. You now know the Father and the beginning, middle and end of creation. You receive the Father’s love. The Father takes you beyond with His glance. He personally comes and gives you knowledge. There is no question of inspiration in this. The Father gives you directions: By having remembrance in this way you will receive power, just as a battery is charged. This is a motor and its battery has become dull. Now, by connecting the yoga of your intellects to the Almighty Authority Father, you will become satopradhan from tamopradhan and your batteries will become charged. The Father Himself comes and charges everyone’s battery. Only the Father is the Almighty Authority. The Father alone sits here and tells you all of these sweet things. You have been studying the scriptures of the path of devotion for birth after birth. The Father now says just the one thing to those of all religions. He says: Consider yourselves to be souls and remember the Father and your sins will be cut away. It is the duty of you children to remember Me. There is no question of becoming confused about this. Only the one Father is the Purifier. When you have all become pure, everyone will return home. This knowledge is for everyone. This is easy Raj Yoga and easy knowledge. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Connect your intellect’s yoga to the Father, the Almighty Authority and charge your battery. Make the soul satopradhan. Never become confused about the pilgrimage of remembrance.
  2. Study this study and have mercy for yourself. Become an ocean of love, the same as the Father. Just as the Father’s love is imperishable, so too, have true imperishable love for everyone. Become a conqueror of attachment.
Blessing: May you be an easy yogi and set your mind and intellect on your seat with the power of determination.
You children have love for the Father and this is why you have to pay a lot of attention to having powerful remembrance when sitting, when walking and moving around and when doing service. However, if you don’t have total control over your mind, if your mind is not in order, you sit properly for a short time and then begin to fidget. Sometimes, you remain set and sometimes you become upset. However, when you use the power of concentration or determination to, set your mind and intellect on the seat of a constant and stable stage then you will become an easy yogi.
Slogan: Use your powers at a time of need and you will have very good experiences.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 23 JULY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 23 July 2019

To Read Murli 22 July 2019 :- Click Here
23-07-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – याद से ही बैटरी चार्ज होगी, शक्ति मिलेगी, आत्मा सतोप्रधान बनेगी इसलिए याद की यात्रा पर विशेष अटेन्शन दोˮ
प्रश्नः- जिन बच्चों का प्यार एक बाप से है, उनकी निशानी क्या होगी?
उत्तर:- 1. यदि एक बाप से प्यार है तो बाप की नज़र उन्हें निहाल कर देगी, 2. वे पूरा नष्टोमोहा होंगे, 3. जिन्हें बेहद के बाप का प्यार पसन्द आ गया, वह और किसी के प्यार में फँस नहीं सकते, 4. उनकी बुद्धि झूठ खण्ड के झूठे मनुष्यों से टूट जाती है। बाबा तुम्हें अभी ऐसा प्यार देते हैं जो अविनाशी बन जाता है। सतयुग में भी तुम आपस में बहुत प्यार से रहते हो।

ओम् शान्ति। बेहद के बाप का प्यार अभी एक ही बार तुम बच्चों को मिलता है, जिस प्यार को भक्ति में भी बहुत याद करते हैं। बाबा, बस आपका ही प्यार चाहिए। तुम मात पिता….. तुम ही सब-कुछ हो। एक से ही आधाकल्प के लिए प्यार मिल जाता है। तुम्हारे इस रूहानी प्यार की महिमा अपरम्पार है। बाप ही तुम बच्चों को शान्तिधाम का मालिक बनाते हैं। अभी तुम दु:खधाम में हो। अशान्ति और दु:ख में सब चिल्लाते हैं। धनी धोणी किसका नहीं है इसलिए भक्ति मार्ग में याद करते हैं। परन्तु कायदेसिर भक्ति का भी समय होता है आधाकल्प।

यह तो बच्चों को समझाया है, ऐसे नहीं कि बाप अन्तर्यामी है। बाप को सबके अन्दर जानने की दरकार ही नहीं। वह तो थॉट रीडर्स होते हैं। वह भी यह विद्या सीखते हैं। यहाँ वह बात ही नहीं। बाप आते हैं, बाप और बच्चे ही यह सारा पार्ट बजाते हैं। बाप जानते हैं सृष्टि का चक्र कैसे फिरता है। उसमें बच्चे कैसे पार्ट बजाते हैं। ऐसे नहीं कि वह हर एक के अन्दर को जानते हैं। यह तो रात को भी समझाया कि हर एक के अन्दर तो विकार ही हैं। बहुत छी-छी मनुष्य हैं। बाप आकर गुल-गुल (फूल) बनाते हैं। यह बाप का प्यार तुम बच्चों को एक ही बार मिलता है जो फिर अविनाशी हो जाता है। वहाँ तुम एक-दो से बहुत प्यार करते हो। अभी तुम मोहजीत बन रहे हो। सतयुगी राज्य को मोहजीत राजा, रानी तथा प्रजा का राज्य कहा जाता है। वहाँ कभी कोई रोते नहीं। दु:ख का नाम नहीं। तुम बच्चे जानते हो बरोबर भारत में हेल्थ, वेल्थ और हैप्पीनेस था, अब नहीं है क्योंकि अभी रावण राज्य है। इसमें सब दु:ख भोगते हैं, फिर बाप को याद करते हैं कि आकर सुख-शान्ति दो, रहम करो। बेहद का बाप है रहमदिल। रावण है बेरहम करने वाला, दु:ख का रास्ता बताने वाला। सब मनुष्य दु:ख के रास्ते पर चलते हैं। सबसे बड़े ते बड़ा दु:ख देने वाला है काम विकार इसलिए बाप कहते हैं – मीठे-मीठे बच्चों, काम विकार पर जीत पहनो तो जगतजीत बनेंगे। इन लक्ष्मी-नारायण को जगत जीत कहेंगे ना। तुम्हारे सामने एम ऑबजेक्ट खड़ी है। मन्दिरों में भल जाते हैं परन्तु उनकी बायोग्राफी कुछ नहीं जानते। जैसे गुड़ियों की पूजा होती है। देवियों की पूजा करते हैं, रचकर खूब श्रृंगार कराकर भोग आदि लगाते हैं। परन्तु वह देवियाँ तो कुछ भी खाती नहीं। खा जाते हैं ब्राह्मण लोग। क्रियेट कर फिर पालना कर विनाश कर देते, इसको कहा जाता है अन्धश्रद्धा। सतयुग में यह बातें होती नहीं। यह सब रस्म रिवाज निकलती है कलियुग में। तुम पहले-पहले एक शिवबाबा की पूजा करते हो, जिसको अव्यभिचारी राइटियस पूजा कहा जाता है। फिर होती है व्यभिचारी पूजा। ‘बाबा’ अक्षर कहने से ही परिवार की खुशबू आती है। तुम भी कहते हो ना तुम मात-पिता…… तुम्हारे इस ज्ञान देने की कृपा से हमको सुख घनेरे मिलते हैं। बुद्धि में याद है कि हम पहले-पहले मूलवतन में थे। वहाँ से यहाँ आते हैं शरीर लेकर पार्ट बजाने। पहले-पहले हम दैवी चोला लेते हैं अर्थात् देवता कहलाते हैं। फिर क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र वर्ण में आते भिन्न-भिन्न पार्ट बजाते हैं। यह बातें तुम पहले नहीं जानते थे। अब बाबा ने आकर आदि-मध्य-अन्त का नॉलेज तुम बच्चों को दिया है। अपनी भी नॉलेज दी है कि मैं इस तन में प्रवेश करता हूँ। यह अपने 84 जन्मों को नहीं जानते थे। तुम भी नहीं जानते थे। श्याम-सुन्दर का राज़ तो समझाया है। यह श्रीकृष्ण है नई दुनिया का पहला प्रिन्स और राधे सेकण्ड नम्बर में। थोड़े वर्ष का फ़र्क पड़ता है। सृष्टि के आदि में इनको पहले नम्बर में कहा जाता है इसलिए ही कृष्ण को सब प्यार करते हैं, इनको ही श्याम और सुन्दर कहा जाता है। स्वर्ग में तो सब सुन्दर ही थे। अभी स्वर्ग कहाँ है! चक्र फिरता रहता है। ऐसे नहीं कि समुद्र के नीचे चले जाते हैं। जैसे कहते हैं लंका, द्वारिका नीचे चली गई। नहीं, यह चक्र फिरता है। इस चक्र को जानने से तुम चक्रवर्ती महाराजा-महारानी विश्व के मालिक बनते हो। प्रजा भी तो अपने को मालिक समझती है ना। कहेंगे, हमारा राज्य है। भारतवासी कहेंगे हमारा राज्य है। भारत नाम है। हिन्दुस्तान नाम रांग है। वास्तव में आदि सनातन देवी-देवता धर्म ही है। परन्तु धर्म भ्रष्ट, कर्म भ्रष्ट होने कारण अपने को देवता नहीं कह सकते। यह भी ड्रामा की नूँध है। नहीं तो बाप कैसे आकर फिर से देवी-देवता धर्म की स्थापना करे। आगे तुमको भी इन सब बातों का मालूम नहीं था, अब बाप ने समझाया है।

ऐसा मीठा बाबा, उनको भी फिर तुम भूल जाते हो! सबसे मीठा बाबा है ना। बाकी रावण राज्य में तुमको सब दु:ख ही देते हैं ना, इसलिए बेहद के बाप को याद करते हैं। उनकी याद में प्रेम के आंसू बहाते हैं – हे साजन, कब आकर सजनियों से मिलेंगे? क्योंकि तुम सब हो भक्तियां। भक्तियों का पति हुआ भगवान्। भगवान् आकर भक्ति का फल देते हैं, रास्ता बताते हैं और समझाते हैं – यह 5 हज़ार वर्ष का खेल है। रचयिता और रचना के आदि-मध्य-अन्त को कोई भी मनुष्य नहीं जानते हैं। रूहानी बाप और रूहानी बच्चे ही जानते हैं। कोई मनुष्य नहीं जानते, देवतायें भी नहीं जानते। यह स्प्रीचुअल फादर ही जानते हैं। वह अपने बच्चों को बैठ समझाते हैं। और कोई भी देहधारी के पास यह रचयिता और रचना के आदि-मध्य-अन्त की नॉलेज हो न सके। यह नॉलेज होती ही है रूहानी बाप के पास। उनको ही ज्ञान-ज्ञानेश्वर कहा जाता है। ज्ञान-ज्ञानेश्वर तुमको ज्ञान देते हैं, राज-राजेश्वर बनाने के लिए इसलिए इसको राजयोग कहा जाता है। बाकी वह सभी हैं हठयोग। हठयोगियों के भी चित्र बहुत हैं। सन्यासी जब आते हैं, वह आकर बाद में हठयोग सिखलाते हैं। जब बहुत वृद्धि हो जाती है तब हठयोग आदि सिखलाते हैं। बाप ने समझाया है मैं आता ही हूँ संगम पर, आकर राजधानी स्थापन करता हूँ। स्थापना यहाँ करते हैं, न कि सतयुग में। सतयुग आदि में तो राजाई है तो जरूर संगम पर स्थापना होती है। यहाँ कलियुग में हैं सब पुजारी, सतयुग में हैं पूज्य। तो बाप पूज्य बनाने के लिए आते हैं। पुजारी बनाने वाला है रावण। यह सब जानना चाहिए ना। यह है ऊंच ते ऊंच पढ़ाई। इस टीचर को कोई जानते नहीं। वह सुप्रीम बाप भी है, टीचर भी है, सतगुरू भी है। यह कोई नहीं जानते। बाप ही आकर अपना पूरा परिचय देते हैं। बच्चों को खुद पढ़ाकर फिर साथ में ले जाते हैं। बेहद के बाप का लव मिलता है तो फिर और कोई लव पसन्द नहीं आता। इस समय है ही झूठ खण्ड। झूठी माया, झूठी काया…… भारत अब झूठ खण्ड है फिर सतयुग में होगा सच खण्ड। भारत कभी विनाश को नहीं पाता है। यह है सबसे बड़े ते बड़ा तीर्थ। जहाँ बेहद का बाप बच्चों को बैठ सृष्टि के आदि, मध्य, अन्त का राज़ समझाते हैं और सर्व की सद्गति करते हैं। यह बहुत बड़ा तीर्थ है। भारत की महिमा अपरम्पार है। परन्तु यह भी तुम समझ सकते हो – भारत है वन्डर ऑफ वर्ल्ड। वह हैं माया के 7 वन्डर्स। ईश्वर का वन्डर एक ही है। बाप एक, उनका वन्डरफुल स्वर्ग भी एक है। उनको ही हेविन, पैराडाइज़ कहते हैं। सच्चा-सच्चा नाम एक ही है स्वर्ग, यह है नर्क। ऑलराउन्ड चक्र तुम ब्राह्मण ही लगाते हो। हम सो ब्राह्मण, सो देवता…….। चढ़ती कला, उतरती कला। चढ़ती कला तेरे भाने सर्व का भला। भारतवासी ही चाहते हैं कि विश्व में शान्ति भी हो, सुख भी हो। स्वर्ग में तो है ही सुख, दु:ख का नाम नहीं। उनको कहा जाता है ईश्वरीय राज्य। सतयुग में सूर्यवंशी फिर सेकण्ड ग्रेड में हैं चन्द्रवंशी। तुम हो आस्तिक, वह हैं नास्तिक। तुम धनी के बन बाप से वर्सा लेने का पुरूषार्थ करते हो। तुम्हारी माया के साथ गुप्त लड़ाई चलती है। बाप आते हैं रात्रि को। शिवरात्रि है ना। परन्तु शिव की रात्रि का भी अर्थ नहीं समझते। ब्रह्मा की रात पूरी होती है, दिन शुरू होता है। वह कहते हैं कृष्ण भगवानुवाच, यह तो है शिव भगवानुवाच। अब राइट कौन? कृष्ण तो पूरे 84 जन्म लेते हैं। बाप कहते हैं मैं आता हूँ साधारण बूढ़े तन में। यह भी अपने जन्मों को नहीं जानते हैं। बहुत जन्मों के अन्त में जब पतित बन जाते हैं तो पतित सृष्टि, पतित राज्य में आता हूँ। पतित दुनिया में अनेक राज्य, पावन दुनिया में होता है एक राज्य। हिसाब है ना। भक्ति मार्ग में जब बहुत नौधा भक्ति करते हैं, सिर काटने पर आ जाते हैं तब उनकी मनोकामना पूरी होती है। बाकी उसमें रखा कुछ भी नहीं हैं, उसको कहा जाता है नौधा भक्ति। जबसे रावण राज्य शुरू होता है तब से भक्ति के कर्मकाण्ड की बातें मनुष्य पढ़ते-पढ़ते नीचे आ जाते हैं, कहते हैं व्यास भगवान् ने शास्त्र बनाये, क्या-क्या बैठ लिखा है? भक्ति और ज्ञान का राज़ अभी तुम बच्चों ने समझा है। सीढ़ी और झाड़ में यह सब समझानी है। उसमें 84 जन्म भी दिखाये हैं। सब तो 84 जन्म नहीं लेते हैं। जो शुरू में आये होंगे वही पूरे 84 जन्म लेंगे। यह नॉलेज तुमको अभी ही मिलती है फिर सोर्स ऑफ इनकम हो जाती है। 21 जन्म कोई अप्राप्त वस्तु नहीं रहती है, जिसकी प्राप्ति के लिए पुरूषार्थ करना पड़े। उसको कहा जाता बाप का एक ही स्वर्ग है वन्डर ऑफ दी वर्ल्ड। नाम ही है पैराडाइज़। उनका बाप मालिक बनाते हैं। वह तो सिर्फ वन्डर्स दिखाते हैं, परन्तु तुमको तो बाप उसका मालिक बनाते हैं इसलिए अब बाप कहते हैं निरन्तर मुझे याद करो। सिमर-सिमर सुख पाओ, कलह कलेष मिटे सब तन के, जीवनमुक्ति पद पाओ। पवित्र बनने के लिए याद की यात्रा भी बहुत जरूरी है। मनमनाभव, तो फिर अन्त मती सो गति हो जायेगी। गति कहा जाता है शान्तिधाम को। सद्गति होती है यहाँ। सद्गति के अगेन्स्ट होती है दुर्गति।

अभी तुम बाप को और रचना के आदि-मध्य-अन्त को जान गये हो। तुमको बाप का लव मिलता है। बाप नज़र से निहाल कर देते हैं। सम्मुख आकर ही नॉलेज सुनायेंगे ना। इसमें प्रेरणा की तो कोई बात ही नहीं। बाप डायरेक्शन देते हैं, ऐसे याद करने से शक्ति मिलेगी। जैसे बैटरी चार्ज होती है ना। यह मोटर है, इसकी बैटरी डल हो गई है। अब सर्वशक्तिमान् बाप के साथ बुद्धि का योग लगाने से फिर तुम तमोप्रधान से सतोप्रधान बन जायेंगे। बैटरी चार्ज हो जायेगी। बाप ही आकर सबकी बैटरी चार्ज करते हैं। सर्वशक्तिमान् बाप ही है। यह मीठी-मीठी बातें बाप ही बैठ समझाते हैं। वह भक्ति के शास्त्र तो जन्म-जन्मान्तर पढ़ते आये हो। अब बाप सब धर्म वालों के लिए एक ही बात सुनाते हैं। कहते हैं अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो तो तुम्हारे पाप कट जायेंगे। अब याद करना तुम बच्चों का काम है, इसमें मूँझने की तो बात ही नहीं है। पतित-पावन एक बाप ही है। फिर पावन बन सब घर चले जायेंगे। सबके लिए यह नॉलेज है। यह है सहज राजयोग और सहज ज्ञान। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सर्व शक्तिमान् बाप से अपना बुद्धियोग लगाकर बैटरी चार्ज करनी है। आत्मा को सतोप्रधान बनाना है। याद की यात्रा में कभी मूँझना नहीं है।

2) पढ़ाई पढ़कर अपने ऊपर आपेही कृपा करनी है। बाप समान प्यार का सागर बनना है। जैसे बाप का प्यार अविनाशी है, ऐसे सबसे अविनाशी सच्चा प्यार रखना है, मोहजीत बनना है।

वरदान:- दृढ़ता की शक्ति से मन-बुद्धि को सीट पर सेट करने वाले सहजयोगी भव
बच्चों का बाप से प्यार है इसलिए याद में शक्तिशाली हो बैठने का, चलने का, सेवा करने का अटेन्शन बहुत देते हैं लेकिन मन पर अगर पूरा कन्ट्रोल नहीं है, मन आर्डर में नहीं है तो थोड़ा टाइम अच्छा बैठते हैं फिर हिलना डुलना शुरू कर देते हैं। कभी सेट होते कभी अपसेट। लेकिन एकाग्रता की वा दृढ़ता की शक्ति से मन-बुद्धि को एकरस स्थिति की सीट पर सेट कर दो तो सहजयोगी बन जायेंगे।
स्लोगन:- जो भी शक्तियां हैं उन्हें समय पर यूज़ करो तो बहुत अच्छे-अच्छे अनुभव होंगे।

BRAHMA KUMARIS MURLI 23 JULY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 23 July 2018

To Read Murli 22 July 2018 :- Click Here
23-07-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम्हें अपने ही तन-मन-धन से भारत को पावन बनाने की सर्विस करनी है, इस भारत को माया रावण से लिबरेट करना है”
प्रश्नः- जो बच्चे देही-अभिमानी रहने का पुरुषार्थ करते हैं वह किस फिक्र से छूट जाते हैं?
उत्तर:- इस पुराने शरीर का कर्मभोग जो घड़ी-घड़ी भोगना के रूप में आता है, हिसाब-किताब चुक्तू करना पड़ता है इसकी फिक्र से वह छूट जाते हैं क्योंकि उनकी बुद्धि में रहता – अभी तो हमें पुराने हिसाब-किताब चुक्तू कर कर्मातीत बनना है। फिर आधाकल्प के लिए किसी भी प्रकार का रोग हमारे पास आ नहीं सकता। बाबा ऐसी फर्स्टक्लास नेचर-क्योर करते हैं जो बीमारी का नाम-निशान नहीं रहता।
गीत:- तुम्हीं हो माता, पिता तुम्हीं हो…….. 

ओम् शान्ति। बच्चों ने गीत सुना। बच्चे जानते हैं हम पतित-पावन मात-पिता के सम्मुख बैठे हैं। पतित भारत को पावन बनाने लिए श्रीमत पर चल रहे हैं क्योंकि तुम बच्चे हो अपने परमपिता परमात्मा की सर्विस में। बाप भी इसी सर्विस में है। यह तो बच्चे जानते हैं बरोबर भारत पावन था। अब पतित बना है। पावन दुनिया को 5 हजार वर्ष हुए। दुनिया इन बातों को कुछ भी नहीं जानती। अभी तुम बच्चे बाप की श्रीमत पर चल तन-मन-धन से भारत की सेवा करते हो। भारत को माया रावण की जंजीरों से छुड़ाए और रामराज्य स्थापन कर रहे हो। यह तो तुम किसको भी समझा सकते हो। हम पतित भारत को पावन बनाने आये हैं, तो जरूर पवित्र बनना पड़े। पवित्रता पर ही झगड़ा चलता है। कोई न कोई तकलीफ होती है। उन्हों की है हिंसक लड़ाई, तुम्हारी लड़ाई है रावण रूपी 5 विकारों से। तुम यह भी जानते हो कल्प-कल्प हम श्रीमत पर चले हैं। इस समय सारी दुनिया रावण की मत पर चल रही है। श्रीमत से तुम दैवी मत वाले देवता बनते हो। अभी तुम ब्राह्मण वर्ण के हो। तुम सारी दुनिया को पतित से पावन बनाते हो। बेहद का बाप आते हैं बच्चों के पास। बच्चे कहते हैं हम तन-मन-धन से भारत को फिर से दैवी राज्य बनाते हैं क्योंकि भारत सतयुग के आदि में राजस्थान था। हम अपना दैवी राज्य स्थापन कर रहे हैं। जैसे काँग्रेस ने मिलकर मदद की ना। बापू गांधी जी ने तन-मन-धन से सेवा की। जेल में जाता था, तो तन की सेवा हुई ना। मन भी उसमें लगा हुआ था। अभी तुम जानते हो बाप माया रावण से लिबरेट करते हैं। यह बेहद का बाप, वह भारत का बापू जी था। सभी का नहीं था। वैसे भी बुजुर्ग को बापू जी कहते हैं। मेयर को भी बापू जी कहते हैं। फादर्स तो बहुत हैं। तुम्हारा फादर एक है। दूसरा न कोई। बेहद का बापू एक है – शिवबाबा, वह भारत को पावन बनाने की सर्विस में उपस्थित हुए हैं। जरूर कोई शरीर में आया होगा। साथ में मददगार भी होंगे। अकेला तो नहीं होगा। तुम शिव शक्ति सेना हो। तुमको समझाने में बड़ा सहज है। काँग्रेसियों ने भी कितना सहन किया। अबलायें भी जेल आदि में गई। जास्ती दु:ख पुरुषों ने उठाया था। अभी फिर तुम माताओं को बहुत दु:ख सहन करना पड़ता है विष के कारण।

तुम समझा सकती हो बाप आया है नई सृष्टि रचने। तो पहले-पहले ब्राह्मण चाहिए। ब्रह्मा मुख वंशावली ब्राह्मण फिर तुम दैवी अर्थात् विष्णु की वंशावली बनते हो। यह बुद्धि में रहना चाहिए। बरोबर हम बाबा के साथ मददगार हैं। श्रीमत पर तो हजारों लाखों को चलना है। बापू को भी बड़ी सेना थी। उनमें भी कोई अच्छे नामीग्रामी थे, कोई कैसे थे। उस बापू ने फिरंगियों (अंग्रेजों) से छुड़ाया। अभी तुम बच्चों को रावण दुश्मन से छुड़ाने लिए श्रीमत दे रहे हैं। जैसे वह कहते हैं हम स्वराज्य स्थापन करते हैं। तुम्हारी बुद्धि में है हम श्रीमत पर दैवी स्वराज्य स्थापन कर रहे हैं। कदम-कदम पर श्रीमत लेनी पड़ती है। श्रीमत से श्रेष्ठ बनेंगे। हर एक का कर्मबंधन अपना-अपना है। कर्मातीत अवस्था को पाने के लिए अन्त तक पुरुषार्थ करना पड़ता है। कर्मातीत अवस्था अभी आई नहीं है। अजुन बहुत पुरुषार्थ करना है। कर्मातीत अवस्था वह जिसमें शरीर को भी कोई दु:ख न हो। पुराने शरीर को तो अन्त तक दु:ख होता ही है। ऐसे नहीं कि सब सम्पूर्ण हो चुके हैं। कर्मभोग चुक्तू करना है। कर्मातीत अवस्था जब तक हो तब तक माया के तूफान, कर्मों के हिसाब-किताब की भोगना चली आयेगी। उसका फिक्र नहीं करना है। बाप को याद करना है। बाप कहते हैं देही-अभिमानी भव। यह अक्षर अभी के ही हैं जो गाये जाते हैं। मनुष्य तो जानते नहीं – इसका अर्थ क्या है? अभी तुम जानते हो – सोल कॉन्सेस से हम अकेला होकर बाप को याद कर सकते हैं। अब सोल कॉन्सेस बनना है। पुरुषार्थ करना है – मैं आत्मा हूँ, बाप को याद करती हूँ। सर्वव्यापी कहने से हम किसको याद करें? बाप ने समझाया है शान्ति के लिए कहाँ जाना नहीं है। कर्म तो करना ही है। अशरीरी होकर रहना है। हम आत्मा हैं, यह आरगन्स हैं। आत्मा का तो स्वधर्म है ही शान्त। हम बाजा नहीं बजाते। वह सन्यासी आदि तो हठयोग करते हैं, प्राणायाम चढ़ाते हैं। फिर अभ्यास करते हैं, खड्डे में जाकर अनेक प्रयत्न करते हैं। यहाँ हठयोग की कोई बात नहीं। सिर्फ नॉलेज को समझना है। गॉड फादर की नॉलेज को कोई नहीं जानते। या तो कह देते गॉड फादर तो सर्वव्यापी है। इसको ही कहा जाता मिथ्या ज्ञान। तुम अब फादर को जानते हो। सभी का फादर एक है। वही आकर सृष्टि को पतित से पावन बनाते हैं। तुम बाप के साथ मददगार हो। पतित से पावन बन फिर पावन दुनिया में चलेंगे। वहाँ पावन दैवी राज्य चलता है। पावन दुनिया के लिए तुम राजयोग सीख रहे हो। फिर टीचर बन तुमको सृष्टि चक्र का ज्ञान देते हैं। जिससे तुम स्वदर्शन चक्रधारी बन चक्रवर्ती राजा-रानी बनते हो। गृहस्थ व्यवहार में रहते हुए इस अवस्था को जमाना है। तुमको कितना सहन करना पड़ता है! मार खाते हैं, इस यज्ञ में असुरों के कितने विघ्न पड़ते हैं! अबलाओं पर अत्याचार होते हैं – विकार के कारण। काँग्रेसी उस जेल में जाते थे तुम फिर कंस-जरासंधियों की जेल में बाँध होती हो। थोड़ा सहन करना पड़ता है। पावन बनने में मैजारिटी तुम्हारी है। हाँ, कोई कमजोर पुरुष लोग होते हैं तो फिर स्त्री का सहन करना पड़ता है। नहीं तो भारतवासियों का कायदा है 60 वर्ष के बाद वानप्रस्थ अवस्था को धारण करना। फिर गृहस्थ को छोड़ चाबी बच्चों को दे देते हैं कि सम्भालते रहो। सपूत बच्चे अच्छी रीति सम्भालते हैं। बाप ने सेवा कर बड़ा बनाया, फिर बच्चे का फ़र्ज है सम्भालना। कहेंगे – आप सत्संग आदि करो, हम सम्भाल करते रहेंगे। आजकल बच्चे भी दुश्मन बन पड़ते हैं। तुम बच्चों की युद्ध है माया रावण के साथ। उन्होने फिरंगियों से लिबरेट किया – गांधी की मत से।

तुम पर माया रावण ने 2500 वर्ष राज्य किया है। यह माया बड़ी बलवान है। उनको तो लिबरेट करने में 40-50 वर्ष लगे। मेहनत लगती है। यहाँ भी तुम श्रीमत पर जीत पाते हो। रावण तुम्हारा बड़ा पुराना दुश्मन है। तुमको गोली मारती है माया दुश्मन। काम का है सबसे बड़ा बाम। माया से बड़ा ख़बरदार रहना है। बाबा कहते हैं जितना तुम याद करेंगे उतना खुशी का पारा चढ़ेगा। तुम जानते हो हम ईश्वर की औलाद बने हैं। श्रीमत से स्वराज्य स्थापन करते हैं – 21 जन्मों के लिए। काँग्रेसियों ने स्वराज्य लिया अल्पकाल के लिए। वह कोई स्वराज्य नहीं है, और ही मुसीबत है। परन्तु यह तुम जानते हो मृगतृष्णा के समान राज्य मिला हुआ है। काँग्रेस कैसे बनी – यह कोई गीता-भागवत में नहीं है। अभी तुम समझते हो उनको तो कुछ नहीं मिला। करके एम.पी. आदि बने, सो भी अल्पकाल क्षणभंगुर के लिए। अब तो सब दु:खी हैं। हम स्वर्ग की स्थापना कर रहे हैं। ड्रामा में विजय तो तुम्हारी नूँधी हुई है। तुम राजयोग सीख रहे हो। जानते हो हम सूर्यवंशी बनेंगे। बाबा पूछते हैं तुम सूर्यवंशी बनने के लिए पुरुषार्थ करते हो वा चन्द्रवंशी बनने के लिए? तो कहते हैं हम सूर्यवंशी का करते हैं। मम्मा-बाबा कहने वाले तो जरूर सूर्यवंशी ही बनेंगे। इसको कहा जाता है फालो फादर-मदर। मात-पिता है ना। यह सूर्यवंशी महाराजा-महारानी बनते हैं। यह तो सबको 100 प्रतिशत निश्चय है। मात-पिता बच्चों को कहते हैं तुमको भी पुरुषार्थ कर तख्तनशीन बनना चाहिए। पुरुषार्थ करके फालो करना चाहिए।

कोई शुभ बोलते हैं तो कहा जाता है – अच्छा, तुम्हारे मुख में गुलाब। अरे, सूर्यवंशी बनना कोई कम बात थोड़ेही है! कितने हीरे-जवाहरों से सजे हुए महल होंगे! कितना ऊंच पद है! विचार करने से रोमांच खड़े हो जाते हैं। बाबा हमको कितना ऊंच बनाते हैं! हम तो कुछ भी नहीं जानते थे। गांवड़े का छोरा गाया हुआ है ना। गांवड़े का छोरा कोई कृष्ण नहीं था। यहाँ गांव वाले कितने आये हैं! गरीबों का ही सौभाग्य है। साहूकारों का तो हृदय विदीरण हो जाता है। बाप कहते हैं मैं हूँ ही गरीब निवाज़। देखते हो कौन-कौन आते हैं वर्सा लेने। तो कोई भी मिले – बोलो, हम भारत की सर्विस में हैं। तन-मन-धन से भारत को स्वर्ग बनाने की सेवा करते हैं। तो कोई भी इनकमटैक्स वाला ऑफीसर होगा तुमको झट माफ कर देगा। उस गवर्मेन्ट के पास तो बहुत पैसे बरबाद होते हैं। तुम्हारे पैसे तो भारत को आबाद करते हैं। कितना फ़र्क है? किसको भी समझाओ तो वह चािढत हो जाए – ओहो! यह तो बड़ी भारी सर्विस करने वाले हैं। ऐसी सर्विस करो। बहुत-बहुत मीठे बनो। सच्चे साहेब से सच्चा होकर रहना है। सच्चे साहेब को याद भी करना है। अगर सचखण्ड का मालिक बनना है तो सच्चे बाबा को निरन्तर याद करने का अभ्यास करो। सिमर-सिमर सुख पाओ। ऐसा और कोई नहीं जिसके कलह-कलेष मिटे हुए हों। कुछ न कुछ बीमारी आदि होती रहती हैं। वहाँ तुमको कुछ भी नहीं होगा। बाप ऐसा नेचर-क्योर कर देते हैं जो तुम कभी रोगी नहीं बनेंगे। 21 जन्म तुम निरोगी बन जाते हो। तो इतना नशे में रहना चाहिए। फ़र्क समझाओ – पाण्डव-कौरव क्या करत भये……..। उस बापू जी ने क्या किया, यह बेहद का बापू जी क्या करते हैं? बाप तुम्हें रावण की जंजीरों से छुड़ाते हैं। उस बाप को याद करने से तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। वह बाप भी है, टीचर भी है, सतगुरू भी है। जन्म-जन्मान्तर के पाप सिर पर हैं। उनसे पावन बनने का उपाए एक ही है। वह पानी की गंगा किसको पावन नहीं कर सकती। यह बाप की याद पावन बनाती है। ऐसे नहीं कि नेष्ठा में बैठें। हाँ, बैठना भी अच्छा है। एक-दो के बल से बैठ जायेंगे। परन्तु बाबा कहते हैं – कैसे भी बैठो, याद तो चलते-फिरते कार्य करते करना है। उस स्कूल में टीचर पढ़ाते हैं तो स्टूडेन्ट को टीचर को जरूर याद करना पड़े। बच्चों को बुद्धि में यह बैठ जाना चाहिए कि हमको बाबा पढ़ाते हैं। ऐसा कोई नहीं जो बाप-टीचर को याद नहीं करे। तुम तो जानते हो अब वापिस जाना है तो सतगुरू को भी याद करना पड़े। तुम वन्डरफुल बातें सुनाते हो। हमारा बाप, टीचर, सतगुरू – सत बाप, सत टीचर, सत गुरू है। सत का संग ही तारता है अर्थात् मुक्ति-जीवनमुक्ति में ले जाता है। इस पुरानी दुनिया से सब वापिस जायेंगे। फिर आकर नई दुनिया में राज्य करेंगे। तुम्हारी यह रेस है, बेहद की घुड़दौड़ है। सब कहते हैं हम पहले पहुँचे, तो याद करना पड़े। स्टूडेन्ट को दौड़ाया जाता है। जितना पुरुषार्थ करेंगे उतना विजय माला में पिरोयेंगे। अच्छा!

मात-पिता बापदादा का मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति दिल व जान, सिक व प्रेम से यादप्यार। तुम बहुत प्यारे बनते हो। हम सो पूज्य देवी-देवतायें थे फिर हम पूज्य दो कला कम क्षत्रिय चन्द्रवंशी बने। फिर हम पुजारी वैश्य वंशी, शूद्रवंशी बनें। अब फिर हम पुजारी से पूज्य बन रहे हैं श्रीमत से। यह चक्र बुद्धि में फिराना है। अच्छा – रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) भारत को आबाद करने में अपना तन-मन-धन सब सफल करना है। बहुत-बहुत मीठे बन सेवा करनी है। सचखण्ड स्थापन करने के लिए सच्चा बनना है।

2) विजय माला में पिरोने लिए याद की रेस करनी है। चलते-फिरते कार्य करते बाप-टीचर-सतगुरू को याद करना है।

वरदान:- त्याग और तपस्या के वातावरण द्वारा विघ्न-विनाशक बनने वाले सच्चे सेवाधारी भव
जैसे बाप का सबसे बड़े से बड़ा टाइटल है वर्ल्ड सर्वेन्ट। वैसे बच्चे भी वर्ल्ड सर्वेन्ट अर्थात् सेवाधारी हैं। सेवाधारी अर्थात् त्यागी और तपस्वी। जहाँ त्याग और तपस्या है वहाँ भाग्य तो उनके आगे दासी के समान आता ही है। सेवाधारी देने वाले होते हैं, लेने वाले नहीं इसलिए सदा निर्विघ्न रहते हैं। तो सेवाधारी समझकर त्याग और तपस्या का वातावरण बनाने से सदा विघ्न-विनाशक रहेंगे।
स्लोगन:- किसी भी परिस्थिति का सामना करने का साधन है-स्व स्थिति की शक्ति।

TODAY MURLI 23 JULY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 23 July 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 22 July 2018 :- Click Here

23/07/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to do the service of making Bharat pure with your minds, bodies and wealth. You have to liberate this Bharat from Maya, Ravan.
Question: What worry do the children who make effort to be soul conscious become liberated from?
Answer: From worrying about the karma in their old bodies, which repeatedly comes in the form of suffering. They are freed from worrying that their karmic accounts have to be settled, because it remains in their intellects: We now have to settle our old karmic accounts and become karmateet. Then, for half a cycle, no kind of illness will come to us. Baba performs such a first-class nature cure that no name or trace of illness remains.
Song: You are the Mother and Father. 

Om shanti. You children heard the song. You children know that you are personally sitting in front of the Purifier, the Mother and Father. You are following shrimat in order to make impure Bharat pure, because you children are in the service ofthe Supreme Father, the Supreme Soul. The Father is also in this service. You children know that Bharat really was pure and that it has now become impure. It has been 5000 years since the pure world came into existence. People of the world don’t know any of these things. You children are now following the Father’s shrimat and serving Bharat with your minds, bodies and wealth. You are liberating Bharat from the chains of Maya, Ravan, and establishing the kingdom of Rama. You can explain to anyone that we have come to purify impure Bharat and so we definitely have to become pure. All the quarrelling is over purity. There is one difficulty or another. Their war is one of violence whereas your war is with Ravan in the form of the five vices. You know that you have been following shrimat every cycle. At this time the whole world is following the dictates of Ravan. By following shrimat you become deities, those with divine directions. You now belong to the Brahmin clan. You make the whole world pure from impure. The unlimited Father comes to the children. You children say that you are once again making Bharat into the divine kingdom with your minds, bodies and wealth. At the beginning of the golden age, Bharat was a kingdom. We are establishing our divine kingdom, just as the Congress Party got together and helped (to gain independence). Gandhi Bapu served with his body, mind and wealth. He also had to go to prison and so that was serving with his body. His mind was also engaged in that. You know that the Father is now liberating you from Maya, Ravan. This One is the unlimited Father whereas that one was the Bapuji (father) of Bharat; he was not the father of everyone. In fact, an elderly person is called bapuji. A mayor is also called bapuji. There are many fathers. Your Father is only one and none other. There is only one unlimited Bapu, Shiv Baba. He is present in the service of making Bharat pure. He must surely have come in someone’s body. He must also have helpers; He wouldn’t do this alone. You are the Shiv Shakti Army. It is very easy for you to explain. Those of the Congress Party also had to tolerate a great deal. Innocent women were put in prison. It was the men who endured the most suffering. You mothers now have to endure a lot of suffering because of poison. You can explain that the Father has come to create a new world and that, first of all, Brahmins are needed. You Brahmins, the mouth-born creation of Brahma, become divine, that is, you become the children of Vishnu. It should remain in your intellects that you truly are Baba’s helpers. Hundreds of thousands have to follow shrimat. Even Bapu Gandhi had a large army. Among them, there were good, well-known ones and some who were ordinary. That Bapu liberated you from the British. Baba is now giving you children shrimat in order to liberate you from the enemy Ravan. Just as they used to say that they are establishing their self-sovereignty, so it is in your intellects that you are establishing the divine sovereignty by following shrimat. You have to take shrimat at every step. It is through shrimat that you will become elevated. You each have your own karmic accounts. In order to attain the karmateet stage, you have to make effort till the end. You haven’t attained your karmateet stage yet; you still have to make a lot of effort. The karmateet stage is such that even the body doesn’t experience suffering. An old body will suffer till the end. It is not that anyone has become perfect. The suffering of karma has to be settled. Until you reach your karmateet stage, the storms of Maya and the suffering of your karmic accounts will continue to come. You should not worry about them. Simply remember the Father. Baba says: Become soul conscious! These words have been remembered from this time. Human beings don’t know the meaning of this. You now know that, by becoming soul conscious, you can become detached and remember the Father. You now have to become soul conscious. You have to make effort: I am a soul and I am remembering the Father. Whom would you remember by saying that He is omnipresent? Baba has explained that you do not have to go anywhere for peace. You have to continue to perform actions. You have to practise being bodiless: I am a soul and these are my organs. The original religion of souls is peace. We do not need a band to play. Sannyasis do hatha yoga and breathing exercises. They practise different exercises while sitting in a hole in the ground. Here, there is no question of hatha yoga; you simply have to understand knowledge. No one knows the knowledge of God, the Father. They say that God, the Father, is omnipresent. That is called false knowledge. You now know the Father. The Father of All is One. He comes and makes the impure world pure. You are the Father’s helpers. You are becoming pure from impure and will then go to the pure world. There, there is the pure divine kingdom. You are studying Raja Yoga for the pure world. He becomes your Teacherand gives you the knowledge of the world cycle, through which you become spinners of the discus of self-realization and then kings and queens, rulers of the globe. You have to maintain this stage while living at home with your families. You have to tolerate a great deal. The mothers are beaten so much. Many obstacles are created in this sacrificial fire by devils. Innocent ones are assaulted for vice. People of the Congress Party were put in prison, whereas you are imprisoned in the bondage of Kans and Jarasandha etc. You do have to tolerate a little. Of those who become pure, you (mothers) are in the majority. Yes, if some men are weak, they have to tolerate their wives. In fact, the people of Bharat have a rule of going into the stage of retirement after the age of 60. They renounce their households and give the keys to their children to look after everything. Worthy children look after everything very well. Their father served them and brought them up, and so it is the duty of the children to look after him. They would say: You can go to your holy gathering and we will look after everything. Nowadays, even their children become enemies. The battle of you children is with Maya, Ravan. By following Gandhi’s instructions, Bharat was liberated from the foreigners. Maya, Ravan has ruled over you for 2500 years. This Maya is very strong. It took them (Congress Party) 40 to 50 years of effort to liberate themselves. Here, too, you gain victory by following shrimat. Ravan is your greatest and oldest enemy. Maya, your enemy, shoots you. The biggest bomb is lust. You have to remain very cautious of Maya. Baba says: The more you remember Me, the more the degrees of the mercury of your happiness will rise. You know that you have become the children of God and are establishing the kingdom of self-sovereignty for 21 births by following shrimat. Those of the Congress Party only claimed self-sovereignty for a temporary period. That is not sovereignty; it is even more of a problem. However, you understand that the kingdom they received is like a mirage. How the Congress was formed is not mentioned in the Gita or the Bhagawad. You now understand that they did not receive anything. At the most, they may have become MPs and that, too, only for short period. Everyone is now unhappy. We are establishing heaven. Your victory is fixed in the drama. You are studying Raja Yoga. You understand that you will become part of the sun dynasty. Baba asks: Are you making effort to become part of the sun dynasty or the moon dynasty? You say: We are making effort to become part of the sun dynasty. Those who say “Mama and Baba” will definitely become part of the sun dynasty. This is known as following the mother and father. The mother and father become the sun-dynasty emperor and empress. You all have 100% faith in this. The mother and father say to the children: You should make effort to claim the heart-throne. Make effort by followingthem. If someone says some auspicious words, it is said: Let there be a rose in your mouth. It is no small thing to become part of the sun dynasty! There will be so many palaces decorated with diamonds and jewels. It is such an elevated status. You have goose pimples just by thinking about it. Baba is making us so elevated! Previously we didn’t know anything. A village urchin has been remembered, but Krishna was not a village urchin. Many villagers have come here. The poor are extremely fortunate. The hearts of the wealthy shrink. The Father says: I am the Lord of the Poor. You can see all who come to claim their inheritance. Tell whomever you meet: We are presently serving Bharat. We are serving Bharat with our minds, bodies and wealth in order to make it into heaven. Then, if an income tax officer comes, he would quickly waive your taxes. That Government wastes a great deal of money. Your money makes Bharat very prosperous. There is such a contrast. Explain this to others so that their heads start to spin: Oho, you are doing great service of Bharat. Do such service. Become very, very sweet. Remain true to the true Lord and also remember the true Lord. If you want to become the masters of the land of truth, then practise remembering the true Father constantly. By maintaining remembrance, you experience happiness. There is no one else whose sorrow and suffering has been removed; there is always one sickness or another. There, nothing will happen to you. The Father performs such a nature cure that you will never become diseased. You become free from disease for 21 births. Therefore, you should maintain such intoxication. Explain the contrast between what the Kauravas do and what the Pandavas do, what that Bapuji did and what this unlimited Bapuji does. The Father liberates you from the chains of Ravan. By remembering that Father, your sins will be absolved. He is the Father, Teacher and Satguru. There is a burden of sin of many births on your heads. There is only one way to become pure. The water of the Ganges cannot purify anyone. It is this remembrance of the Father that makes you pure. It is not that you have to sit in meditation anywhere. Yes, it is good to sit down; you can sit together with the support of one another. However, Baba says: No matter how you sit, you can remember Me while walking, moving around and doing everything. In that schoo l , students would surely remember the teacher who teaches them. It should sit in the intellects of you children that Baba is teaching you. There is no one who doesn’t remember his father or teacher. You know that you have to return home. Therefore, you have to remember the Satguru. You relate such wonderful things about how our Father is the Teacher and the Satguru. He is the true Father, the true Teacher and the true Satguru. It is the company of the Truth that takes you across, that is, He takes you into liberation and liberation-in-life. Everyone will return home from this old world and you will then go and rule in the new world. This is your race. This is an unlimited horse race. You all say that you want to reach there first. Therefore, you have to stay in remembrance. Students are made to run. To whatever extent you make effort, accordingly you will be threaded in the rosary of victory. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from deep within the heart of the Mother, the Father, BapDada. You become very lovely. We were worthy-of-worship deities. Then we worthy-of-worship ones lost two degrees and became warriors of the moon dynasty. Then we became worshippers in the merchant dynasty and finally the shudra dynasty. Now, once again, from worshippers, we are becoming worthy of worship by following shrimat. Spin this cycle in your intellects. Achcha. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to make Bharat prosperous, use your mind, body and wealth in a worthwhile way. Become very, very sweet and do service. In order to establish the land of truth, remain truthful.
  2. In order to be threaded in the rosary of victory, race ahead in the race of remembrance. While walking, moving around and doing everything, remember the Father, the Teacher and the Satguru.
Blessing: May you be a true server who is a destroyer of obstacles by creating an atmosphere of renunciation and tapasya.
The biggest title of the Father is the World Servant. In the same way children are also world servants, that is, they are servers. A server means a renunciate and a tapaswi. Where there is renunciation and tapasya, fortune comes in front of you like your maid. Servers are those who give, not those who take. This is why they are always free from obstacles. By being a server and creating an atmosphere of renunciation and tapasya, you will constantly be a destroyer of obstacles.
Slogan: The means to face any adverse situation is the power of your own stage.

*** Om Shanti ***

TODAY MURLI 23 July 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 23 July 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 22 July 2017 :- Click Here

23/07/17
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
28/04/82

Signs of complete renunciates.

BapDada is seeing all the great renunciate children who have renounced everything. BapDada is seeing which children are attaining this great fortune and have come close. He is pleased to see such close, such equal, elevated and complete renunciate children. What are the specialities of the children who are complete renunciates, on the basis of which they come close and become equal? With the last words in the corporeal form, Baba spoke of three specialities:

1. Although corporeal, to be constantly incorporeal in your thoughts and to be souls who are constantly detached and loving to the Father.

2. To be constantly egoless in your words, that is, to have spiritual sweetness and humility.

3. To be viceless in your actions with all the physical senses, that is, to have the personality of purity.

So, be a great donor and a bestower of blessings through your all your physical senses. Through your forehead, be a bestower of blessings and a great donor and remind everyone of their original form. With the spiritual drishti from your eyes, give everyone a vision of their original home, the land of liberation, and of their sovereignty, liberation-in-life. Give them a glimpse of their kingdom or signal to them the path through your drishti. Give souls the blessing of having such an experience that they feel that is their real home and kingdom, that they feel they have found the way home and the way to attain their kingdom. After having received such a great donation and blessing, let them become constantly cheerful. Let them clearly understand from your words the all the detail about the Creator and creation and let them attain the blessing of becoming the first creation of the Creator – the elevated Brahmins who then become deities. Similarly, with your hands, become a bestower of blessings and give others the blessing of becoming constantly easy yogis and karma yogis who perform elevated actions and attain elevated fruit. With your lotus feet, follow the fatherat every step and give the blessing of accumulating an income of multimillions at every step. Become a bestower of blessings who gives a special experience through each of your physical senses, that is: the experience of leading a viceless life. These three specialities will be clearly visible in one who is a complete renunciate. A complete renunciate soul will never do anything under the slightest influence of any of the vices. You have been told earlier about the form of a royal trace of the vices. The gross form of the vices has finished but a trace of it in a royal form still remains. You do remember this, do you not? The language of Brahmins has become royal. The expansion of that is very lengthy. “I am correct! or “I am right!” There are many such words of royal language which you use to justify yourself. There are also many royal words for hiding your own weakness and going into a lot of expansion revealing and highlighting the weaknesses of others. This too is a big dictionary. That is not how it is in reality but, in order to prove yourself right, or in order to justify your weaknesses, you use the words of your own manmat (dictates). All of you know this expansion very well! A complete renunciate never uses language that has the slightest trace of any of the vices. To be constantly beyond the slightest trace of vice in your thoughts, words and deeds is to be a complete renunciate; one who renounces all trace of it.

A complete renunciate always has the speciality of being a world benefactor. He is constantly a bestower, a child of the Bestower and filled with the feeling of wanting to give to others. He wouldn’t say: only if the other one does it, or, only if the situation or atmosphere is like this, will he do something. To do that is to be someone who takes the support of others before he does something beneficial, that is, to be someone who first takes and then gives – to first take co-operation and then give. So, that is both giving and taking at the same time. However, a complete renunciate is a master bestower and constantly considers himself to be responsible for bringing benefit to transform situations, for making weak ones powerful and transforming the atmosphere and attitude by using his own powers. In every situation, his thought is always to give the great donation and blessing of his co-operation and powers. He doesn’t say: “When this happens, I will do it.” No! He is a master bestower and, with the pure feelings of bringing about transformation continues to carry out the task by using his powers, that is, of giving them to others. “I have to give! I have to do this! I have to change! I have to be humble!” Those who take the initiative in this way are Arjuna, that is, they have the speciality of being a bestower.

A complete renunciate is one who is always an embodiment of virtues. To be an embodiment of virtues means to be virtuous oneself and also see virtues in everyone. When someone is an embodiment of virtues, his vision and attitude will be filled with virtues, with the result that he will only see the virtues of others through his vision and attitude. Whilst seeing and understanding defects, his intellect will not imbibe anyone’s defects, that is, he will not keep them in his intellect. In this way, he is a holy swan. Even whilst recognising stones he doesn’t pick them up. In fact, with the power of the virtues he has attained, he will try to remove the defects of other souls and help them to become virtuous, because he has the sanskars of being a master bestower.

A complete renunciate considers himself to be responsible for every elevated task – the task of attaining success in service, the task of helping of Brahmin souls to progress and the task of transforming an atmosphere of weakness or wastefulness. When there is the slightest upheaval due to some obstacle in service or due to ‘numberwise’ souls with whom he is in connection or relationship, a complete renunciate soul considers himself to be an embodiment of unlimited support and considers it to be his responsibility to calm down that upheaval everywhere. He experiences himself to be a constant image of support for such unlimited progress. He doesn’t think that that situation is just to do with that particular place or of that particular brother or sister, no. “This is my family! I am a benevolent, instrument soul!” You have received the title of “world benefactors”, not just “self-benefactors” or “c entrebenefactors”. The weakness of others means the weakness of your family. He considers himself to be an instrument in an unlimited way. He doesn’t have the consciousness of “I” but of being an instrument, that is, of being an image of support for world benefit, an image of support for the unlimited task.

A complete renunciate is always steady on the same wavelength with everyone and has the awareness that this is the one task of the one family. By having the awareness of just One, he becomes a number one soul.

A complete renunciate soul experiences himself to be a soul who embodies the instant fruit; and has attained the instant fruit. This means that a complete renunciate soul is like an indestructible tree that is constantly full of all instant and practical fruit. Such a soul is a constant embodiment of fruit. This is why he is ignorant of any temporary desire to receive any limited fruit of limited actions. He is someone whose mind is constantly healthy because of eating practical fruit. He is always healthy. He does not have any illness of the mind. He is constantly “Manmanabhav”. Have you become such complete renunciates? Keep all three specialities in front of you and ask yourself: What type of renunciate am I? How far have I reached? How many steps have I climbed and how close have I come to the aim of becoming equal to the Father? Have you climbed all the steps or have you only climbed a few steps? Out of the seven days’ course, how many courses (lessons) have you completed? In the seven days’ course, bhog is offered on the last day. Should BapDada offer bhog now? All of you offer bhog every Thursday, but BapDada offers the mahabhog (great bhog). The trance messengers carry bhog to the subtle region, but where does BapDada take bhog? First of all, surrender yourself as bhog. Bhog is also offered to the Father, is it not? Having made yourself one who is constantly an embodiment of fruit, now surrender yourself, for only then will mahabhog be offered. Having made yourself complete, offer yourself! Don’t just offer physical bhog. Become a complete soul and offer yourself! Do you understand? Have you understood what more you need to do?

[wp_ad_camp_3]

 

Achcha, now one more turn (time) to meet remains. In fact, today is the last meeting when it comes to meeting in the corporeal form in this way. According to the programme, today is the completion ceremony of meeting in the corporeal form. We shall see what happens later on. You will receive an extra bonus from the Father. However, what was the essence of these meetings that you took for yourself? Did you just hear what Baba said or did you merge that within yourselves and put it into practice? What particular season al fruit will the season of this meeting bring? What fruit will emerge from this season of meetings? There is importance of seasonal fruit, is there not? What was the fruit that emerged this season? Of course you met BapDada, but to meet means to become equal! So, you will now show BapDada the fruit of the determination to be constantly equal to the Father, will you not? Have you prepared such fruit? Have you prepared yourselves? Or, have you just listened to everything for the time being, and you still have to prepare yourselves? Are you just going to celebrate a meeting or are you going to become that? Just as you come running here with a lot of zeal and enthusiasm in order to celebrate a meeting, similarly, you are also flying to become equal, are you not? You even endure so many difficulties with the facilities you use for coming and going. However, no effort is required to go into the flying stage. You have made limited branches your supports and are clutching onto them or sitting on them. Therefore, o flying birds, now let go of the branches! Let go of even the golden branches! It was a golden deer that sent Sita into the cottage of sorrow. The consciousness of “mine”, “my name”, “my respect”, “my honour”, “my centre” are all golden branches. You let go of unlimited rights and want to claim limited rights! “This is my right.” “This is my duty.” Become a flying bird and fly away from all of those. Let go of all of those limited supports. You are not parrots who constantly squawk to be set free. They don’t let go themselves and yet they squawk to be set free. Don’t be parrots like that! Let go and fly! You can become free if you let go. BapDada has given you wings. Is the purpose of the wings to fly or sit down? Become flying birds, that is, constantly continue to fly in the flying stage. Do you understand? This is known as offering seasonal fruit. Achcha.

To the elevated souls who are constantly full of practical fruit and perfect, to those who are constantly incorporeal, egoless and viceless, equal to the Father, to those who never allow any vice even to touch any of their actions, to such complete renunciate souls, to the flying birds who constantly fly in the flying stage, to such elevated souls who are equal to the Father, BapDada’s love, remembrance and namaste.

BapDada meeting groups:

With the stage of a master almighty authority, finish the rubbish of waste.

Do you constantly consider yourself to be a master almighty authority soul? To be an almighty authority means to be powerful. Those who are powerful are able to finish the rubbish of waste. A master almighty authority means one who has no name or trace of wastage. Always have the aim of being a powerful soul who finishes all wastage. Just as it is the sun’s duty to burn rubbish, to dispel darkness and give light, so too, a master sun of knowledge means to be one who finishes the rubbish of waste, to be one who dispels darkness. If you are influenced, you are weak. The Father doesn’t like to hear that the Father is the Almighty Authority but His children are weak! No matter what happens, always have the awareness: I am a master almighty authority. Don’t think: What can I do on my own? Even one can change many others. Become powerful yourself and make others that too. Since a tiny lamp is able to dispel darkness, what can you not do? Always have the aim of changing the atmosphere. Before becoming a world transformer, transform the atmosphere of the centre and make the atmosphere powerful.

BapDada meeting couples:

Are all of you free from the bondage of the household and constantly loving to the Father, whilst living at home with the family? You are not trapped in the bondage of any type of activity, are you? Souls who are trapped in the bondage of people’s opinions, or by their relations, are known as souls who are trapped in bondage. Let there not be any bondage, not even a bondage of the mind. Do not have the slightest thought in your mind that you have any worldly relationship. Whilst living in a worldly relationship, let there be the awareness of your spiritual relationship. It is a worldly relationship for the sake of it, but in your awareness let there be the subtle and spiritual relationship. Remain constantly seated on the lotus-seat. Do not let even a drop of water or dirt touch you. No matter how many souls you come into contact with, remain constantly loving and detached. You have a connection with one another for the sake of service; it is not a physical relationship, but a relationship for service. You are not living with your family because of physical relationships, but because of the relationship of service. It is not your home, but a service place. By considering it to be a service place, you will constantly have the awareness of service. Achcha.

Blessing: May you be a true tapaswi who makes the snake of the vices a garland around your neck.
These five vices are poisonous snakes for people, but for you yogi and tapaswi souls, these snakes become a garland around your necks. This is why they show a garland of snakes around Shankar’s neck representing the bodiless and tapaswi form as a memorial of you Brahmins and Father Brahma. The snakes become a stage for you to dance on in happiness. They have shown this as a sign of conquering. Your spiritual stage is the stage. When you have such victory over the vices, you will then be said to be true tapaswis.
Slogan: To die to the old world and sanskars is to die alive.

 

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

Brahma kumaris murli 23 July 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 23 July 2017

July 2017 all murlis :- Click Here

To Read Murli 22 July 2017 :- Click Here

23/07/17
मधुबन
“अव्यक्त-बापदाद”‘
ओम् शान्ति
28-04-82

सर्वंश त्यागी की निशानियाँ

बापदादा चारों ओर के सर्व महात्यागी, सर्वंश त्यागी बच्चों को देख रहे हैं। कौन से, कौन से बच्चे इस महान भाग्य को प्राप्त कर रहे हैं वा समीप पहुँच गये हैं – ऐसे समीप अर्थात् समान, श्रेष्ठ, सर्वन्श त्यागी बच्चों को बापदादा देख हर्षित होते हैं। सर्वन्श त्यागी बच्चों की विशेषता क्या है, जिन विशेषताओं के आधार पर समीप वा समान बनते हैं? साकार तन द्वारा भी लास्ट बोल में तीन विशेषतायें सुनाई थीं:-

1. संकल्प में सदा निराकारी सो साकारी, सदा न्यारी और बाप की प्यारी आत्मायें।

2. वाणी में सदा निरंहकारी अर्थात् सदा रूहानी मधुरता और निर्माणता।

3. कर्म में हर कर्मेन्द्रिय द्वारा निर्विकारी अर्थात् प्युरिटी की पर्सनैलिटी वाली।

तो हर कर्मेन्द्रिय द्वारा महादानी वा वरदानी। मस्तक द्वारा सर्व को स्व-स्वरूप की स्मृति दिलाने के वरदानी वा महादानी। नयनों से रूहानी दृष्टि द्वारा सर्व को स्व-देश अर्थात् मुक्तिधाम और स्वराज्य अर्थात् जीवनमुक्ति, अपने राज्य का दर्शन कराना वा रास्ता दिखाने का दृष्टि द्वारा ईशारा देना। ऐसा अनुभव कराने का वरदान देना कि जो आत्मायें महसूस करें कि यही हमारा असली घर और राज्य है। घर का रास्ता, राज्य पाने का रास्ता मिल गया। ऐसे महादान वा वरदान पाकर सदा हर्षित हो जाएं। मुख द्वारा रचयिता और रचना के विस्तार को स्पष्ट जान स्वयं को रचयिता की पहली रचना श्रेष्ठ ब्राह्मण सो देवता बनने का वरदान पा लें। ऐसे हस्तों द्वारा सदा सहज योगी, कर्मयोगी बनने के वरदान देने वाले श्रेष्ठ कर्मधारी श्रेष्ठ फल प्राप्त करने के वरदानी बनाने वाले। चरण कमल द्वारा हर कदम फालो फादर कर, हर कदम में पदमों की कमाई जमा करने के वरदानी। ऐसे हर कर्मेन्द्रिय द्वारा विशेष अनुभूति कराने के वरदानी अर्थात् निर्विकारी जीवन। यह तीन विशेषतायें सर्वस्व त्यागी की सदा स्पष्ट दिखाई देंगी। सर्वन्श त्यागी आत्मा किसी भी विकार के अंश के भी वशीभूत हो कोई कर्म नहीं करेगी। विकारों का रॉयल अंश स्वरूप पहले भी सुनाया है कि मोटे रूप में विकार समाप्त हो रॉयल रूप में अंश मात्र के रूप में रह जाते हैं। वह याद है ना! ब्राह्मणों की भाषा भी रॉयल बन गई है। अभी वह विस्तार तो बहुत लम्बा है। मैं ही यथार्थ हूँ वा राइट हूँ – ऐसा अपने को सिद्ध करने के रॉयल भाषा के शब्द भी बहुत हैं। अपनी कमजोरी छिपाकर दूसरे की कमजोरी सिद्ध करने वा स्पष्ट करने का विस्तार करना, उसके भी बहुत रॉयल शब्द हैं। यह भी बड़ी डिक्शनरी है। जो वास्तविकता नहीं है लेकिन स्वयं को सिद्ध करने वा स्वयं की कमजोरियों के बचाव के लिए मनमत के बोल हैं। वह विस्तार अच्छी तरह से सब जानते हो। सर्वन्श त्यागी की ऐसी भाषा नहीं होती – जिसमें किसी भी विकार का अंश मात्र भी समाया हुआ हो। तो मंसा-वाचा-कर्मणा, सम्बन्ध-सम्पर्क में सदा विकारों के अंश मात्र से भी परे – इसको कहा जाता है सर्वन्श त्यागी। सर्व अंश का त्याग।

सर्वन्श त्यागी सदा विश्व कल्याणकारी की विशेषता वाले होंगे। सदा दाता का बच्चा दाता बन सर्व को देने की भासना से भरपूर होंगे। ऐसे नहीं कि यह करे वा ऐसी परिस्थिति हो, वायुमण्डल हो तब मैं यह करूँ। दूसरे का सहयोग ले करके अपने कल्याण के श्रेष्ठ कर्म करने वाले अर्थात् लेकर फिर देने वाले, सहयोग लिया फिर दिया, तो लेना और देना दोनों साथ-साथ हुआ। लेकिन सर्वन्श त्यागी स्वयं मास्टर दाता बन परिस्थितियों को भी परिवर्तन करने का, कमजोर को शक्तिशाली बनाने का, वायुमण्डल वा वृत्ति को अपनी शक्तियों द्वारा परिवर्तन करने का, सदा स्वयं को कल्याण अर्थ ज़िम्मेवार आत्मा समझ हर बात में सहयोग वा शक्ति के महादान वा वरदान देने का संकल्प करेंगे। यह हो तो यह करें, नहीं। मास्टर दाता बन परिवर्तन करने की, शुभ भावना से शक्तियों को कार्य में लगाने अर्थात् देने का कार्य करते रहेंगे। मुझे देना है, मुझे करना है, मुझे बदलना है, मुझे निर्माण बनना है। ऐसे “ओटे सो अर्जुन” अर्थात् दातापन की विशेषता होगी।

सर्वन्श त्यागी अर्थात् सदा गुण मूर्त। गुण मूर्त का अर्थ है गुणवान बनना और सर्व में गुण देखना। अगर स्वयं गुण मूर्त है तो उसकी दृष्टि और वृत्ति ऐसी गुण सम्पन्न हो जायेगी जो उसकी दृष्टि वृत्ति द्वारा सर्व में जो गुण होगा वही दिखाई देगा। अवगुण देखते, समझते भी किसी का भी अवगुण बुद्धि द्वारा ग्रहण नहीं करेगा अर्थात् बुद्धि में धारण नहीं करेगा। ऐसा होलीहंस होगा। कंकड़ को जानते भी ग्रहण नहीं करेगा। और ही उस आत्मा के अवगुण को मिटाने के लिए स्वयं में प्राप्त हुए गुण की शक्ति द्वारा उस आत्मा को भी गुणवान बनाने में सहयोगी होगा क्योंकि मास्टर दाता के संस्कार हैं।

सर्वन्श त्यागी सदा अपने को हर श्रेष्ठ कार्य के – सेवा की सफलता के कार्य में, ब्राह्मण आत्माओं की उन्नति के कार्य में, कमजोरी वा व्यर्थ वातावरण को बदलने के कार्य में ज़िम्मेवार आत्मा समझेंगे। सेवा में विघ्न बनने के कारण वा सम्बन्ध-सम्पर्क में कोई भी नम्बरवार आत्माओं के कारण ज़रा भी हलचल होती है तो सर्वन्श त्यागी बेहद के आधारमूर्त समझ चारों ओर की हलचल को अचल बनाने की जिम्मेवारी समझेंगे। ऐसे बेहद की उन्नति के आधार मूर्त सदा स्वयं को अनुभव करेंगे। ऐसा नहीं कि यह तो इस स्थान की बात है या इस बहन वा भाई की बात है। नहीं। मेरा परिवार है। मैं कल्याणकारी निमित्त आत्मा हूँ। टाइटल विश्व कल्याणकारी का मिला हुआ है, न कि सिर्फ स्व कल्याणकारी वा अपने सेन्टर के कल्याणकारी। दूसरे की कमज़ोरी अर्थात् अपने परिवार की कमज़ोरी है, ऐसे बेहद के निमित्त आत्मा समझेंगे। मैं-पन नहीं निमित्त मात्र हैं अर्थात् विश्व कल्याण के आधारमूर्त, बेहद के कार्य के आधारमूर्त हैं।

सर्वन्श त्यागी सदा एकरस, एक मत, एक ही परिवार का एक ही कार्य है – सदा ऐसे एक ही स्मृति में नम्बर एक आत्मा होंगे।

सर्वन्श त्यागी सदा स्वयं को प्रत्यक्षफल प्राप्त हुई फल स्वरूप आत्मा अनुभव करेंगे अर्थात् सर्वन्श त्यागी आत्मा सदा सर्व प्रत्यक्ष फलों से सम्पन्न अविनाशी वृक्ष के समान होगी। सदा फलस्वरूप होगी इसलिए हद के कर्म का, हद के फल पाने की अल्पकाल की इच्छा से इच्छा मात्रम् अविद्या होंगे। सदा प्रत्यक्ष फल खाने वाले सदा मनदुरूस्त वाले होंगे। सदा स्वस्थ होंगे। कोई भी मन की बीमारी नहीं होगी। सदा मनमनाभव होंगे। तो ऐसे सर्वन्श त्यागी बने हो? तीनों ही विशेषता सामने रख स्वयं से पूछो कि मैं कौन-सा त्यागी हूँ! कहाँ तक पहुँचे हैं? कितनी पौड़ियाँ चढ़ करके बाप समान की मंजिल पर पहुँचे हैं? फुल स्टैप तक पहुँचे हो या अभी कुछ स्टैप तक पहुँचे हो? सात कोर्स में से कितने कोर्स किये हैं? सप्ताह पाठ का लास्ट में भोग पड़ता है – तो बापदादा भी अभी भोग डाले? आप लोग तो हर गुरूवार को भोग लगाते हो लेकिन बापदादा तो महाभोग करेंगे ना। जैसे सन्देशियाँ ऊपर वतन में भोग ले जाती हैं – तो बापदादा भी कहाँ ले जायेंगे! पहले स्वयं को भोग में समर्पण करो। भोग भी बाप के आगे समर्पण करते हो ना! अभी स्वयं को सदा प्रत्यक्ष फल स्वरूप बनाकर समर्पण करो तब महाभोग होगा। अपने आपको सम्पन्न बनाकर आफर करो। सिर्फ स्थूल भोग की आफर नहीं करो। सम्पन्न आत्मा बन स्वयं को आफर करो। समझा – बाकी क्या करना है, वह समझ में आया?

अच्छा – बाकी एक बारी मिलने का रहा हुआ है। वैसे तो साकार द्वारा मिलन मेले का, इस रूप रेखा से मिलने का आज अन्तिम समय है। प्रोग्राम प्रमाण तो आज साकार मेले का समाप्ति समारोह है फिर तो आगे की बात आगे देखेंगे। एकस्ट्रा एक बाप का चुंगा भी मिल जायेगा। लेकिन इस सारे मिलन मेले का स्व प्रति सार क्या लिया? सिर्फ सुना वा समाकर स्वरूप में लाया? इस मिलन मेले की सीज़न विशेष किस सीज़न को लायेगी? इस सीज़न का फल क्या निकलेगा? सीज़न के फल का महत्व होता है ना। तो इस सीज़न का फल क्या निकला! बापदादा मिला यह तो हुआ लेकिन मिलना अर्थात् समान बनना। तो सदा बाप समान बनने के दृढ़ संकल्प का फल बापदादा को दिखायेंगे ना! ऐसा फल तैयार किया है? अपने को तैयार किया है? वा अभी सिर्फ सुना है, बाकी तैयार होना है? सिर्फ मिलन मनाना है वा बनना है? जैसे मिलन मनाने के लिए बहुत उमंग-उत्साह से भाग-भाग कर पहुँचते हो वैसे बनने के लिए भी उड़ान उड़ रहे हो? आने जाने के साधनों में तकलीफ भी लेते हो। लेकिन उड़ती कला में जाने के लिए कोई मेहनत नहीं है। जो हद की डालियाँ बनाकर डालियों को पकड़ बैठ गये हो, अभी हे उड़ते पंछी, डालियों को छोड़ो। सोने की डाली को भी छोड़ो। सीता को सोने के हिरण ने शोक वाटिका में भेजा। यह मेरा मेरा है, मेरा नाम, मेरा मान, मेरा शान, मेरा सेन्टर यह सब सोने की डालियाँ हैं। बेहद का अधिकार छोड़ हद के अधिकार लेने में आ जाते हो। मेरा अधिकार यह है, यह मेरा काम है – इन सबसे उड़ते पंछी बनो। इन हद के आधारों को छोड़ो। तोते तो नहीं हो ना – जो चिल्लाते रहो कि छुड़ाओ। छोड़ते खुद नहीं और चिल्लाते हैं कि छुड़ाओ। तो ऐसे तोते नहीं बनना। छोड़ो और उड़ो। छोड़ेंगे तो छूटेंगे ना। बापदादा ने पंख दे दिये हैं – पंखो का काम है उड़ना वा बैठना? तो उड़ते पंछी बनो अर्थात् उड़ती कला में सदा उड़ते रहो। समझा – इसको कहा जाता है सीज़न का फल देना। अच्छा।

ऐसे सदा प्रत्यक्ष फल सम्पन्न, सम्पूर्ण श्रेष्ठ आत्मायें, सदा बाप समान निराकारी, निरहंकारी, निर्विकारी, सदा हर कर्म में विकारों के कोई भी अंश को स्पर्श न करने वाले, ऐसे सर्व अंश त्यागी, सदा उड़ती कला में उड़ने वाले उड़ते पंछी, ऐसे बाप समान श्रेष्ठ आत्माओं को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

[wp_ad_camp_3]

 

पार्टियों के साथ

मास्टर सर्वशक्तिवान की स्थिति से व्यर्थ के किचड़े को समाप्त करो:-

सदा अपने को मास्टर सर्वशक्तिवान आत्मा समझते हो? सर्वशक्तिवान अर्थात् समर्थ। जो समर्थ होगा वह व्यर्थ के किचड़े को समाप्त कर देगा। मास्टर सर्वशक्तिवान अर्थात् व्यर्थ का नाम निशान नहीं। सदा यह लक्ष्य रखो कि मैं व्यर्थ को समाप्त करने वाला समर्थ हूँ। जैसे सूर्य का काम है किचड़े को भस्म करना, अंधकार को मिटाना, रोशनी देना। तो इसी रीति मास्टर ज्ञान सूर्य अर्थात् व्यर्थ किचड़े को समाप्त करने वाले अर्थात् अंधकार को मिटाने वाले। अगर प्रभाव में आ जाते तो कमजोर हुए। बाप सर्वशक्तिवान और बच्चे कमजोर, यह सुनना भी अच्छा नहीं लगता। कुछ भी हो लेकिन सदा स्मृति रहे “मैं मास्टर सर्वशक्तिवान हूँ”। ऐसा नहीं समझो कि मैं अकेला क्या कर सकता हूँ.. एक भी अनेकों को बदल सकता है। तो स्वयं भी शक्तिशाली बनो और औरों को भी बनाओ। जब एक छोटा-सा दीपक अंधकार को मिटा सकता है तो आप क्या नहीं कर सकते! तो सदा वातावरण को बदलने का लक्ष्य रखो। विश्व परिवर्तक बनने के पहले सेवाकेन्द्र के वातावरण को परिवर्तन कर पावरफुल वायुमण्डल बनाओ।

युगलों से बापदादा की मुलाकात:- सभी प्रवृत्ति में रहते प्रवृत्ति के बन्धन से न्यारे और सदा बाप के प्यारे हो? किसी भी प्रवृत्ति के बन्धन में बंधे हुए तो नहीं हो? लोकलाज के बन्धन में, सम्बन्ध में बंधे हुए को बन्धनयुक्त आत्मा कहेंगे। तो कोई भी बन्धन न हो। मन का भी बन्धन नहीं। मन में भी यह संकल्प न आये कि हमारा कोई लौकिक सम्बन्ध है। लौकिक सम्बन्ध में रहते अलौकिक सम्बन्ध की स्मृति रहे। निमित्त लौकिक सम्बन्ध लेकिन स्मृति में अलौकिक और पारलौकिक सम्बन्ध रहे। सदा कमल आसन पर विराजमान रहो। कभी भी पानी वा कीचड़ की बूँद स्पर्श न करे। कितनी भी आत्माओं के सम्पर्क में आते सदा न्यारे और प्यारे रहो। सेवा के अर्थ सम्पर्क है। देह का सम्बन्ध नहीं है, सेवा का सम्बन्ध है। प्रवृत्ति में सम्बन्ध के कारण नहीं रहे हो, सेवा के कारण रहे हो। घर नहीं सेवास्थान है। सेवास्थान समझने से सदा सेवा की स्मृति रहेगी। अच्छा।

वरदान:- विकारों रूपी सांपों को गले की माला बना देने वाले सच्चे तपस्वी भव 
ये पांच विकार लोगों के लिए जहरीले सांप हैं लेकिन आप योगी तपस्वी आत्माओं के लिए ये सांप गले की माला बन जाते हैं इसलिए आप ब्राह्मणों के और ब्रह्मा बाप के अशरीरी, तपस्वी शंकर स्वरूप के यादगार में सांपों की माला गले में दिखाते हैं। सांप आपके लिए खुशी में नाचने की स्टेज बन जाते हैं, यह अधीनता की निशानी दिखाई है। स्थिति ही स्टेज है। तो जब विकारों पर इतनी विजय हो तब कहेंगे सच्चे तपस्वी।
स्लोगन:- पुराने संसार वा संस्कारों से मरना ही जीते जी मरना है।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 20 July 2017 :- Click Here

Font Resize