23 december ki murli

TODAY MURLI 23 DECEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 23 December 2020

23/12/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, this impure world is an old village. It is not worth you living in it. You now have to go to the pure, new world.
Question: Which one method does the Father tell His children about for them to make progress?
Answer: Children, be obedient and continue to follow BapDada’s directions. Bap and Dada are together. Therefore, if there is any harm caused through his directions (Brahma’s), the Father is responsible and He will put everything right. You mustn’t use your own dictates. Continue to move along considering these to be Shiv Baba’s directions and there will be great progress.

Om shanti. The principal thing that the spiritual Father explains to you spiritual children is: Sit here with the faith that you are souls and remember the Father and all your sorrow will be removed. Those people give blessings. This Father says: Children, all your sorrow will be removed; simply consider yourselves to be souls and remember the Father. This is extremely easy. This is easy ancient Raj Yoga of Bharat. Even though you say “ancient”, there has to be a time period. Even if you say “long, long ago”, how long ago was it? The Father explains: I taught you Raj Yoga exactly 5000 years ago. No one, except the Father, can explain this and no one, except the children, can understand it. It is remembered that souls, the children, remained separated from the Father, the Supreme Soul, for a long time. The Father also says: You became impure while coming down the ladder. You now remember everything. Everyone cries out: Oh Purifier! In the iron age there are only impure beings. In the golden age there are only pure beings. That is the pure world. This old impure world is not worthy for you to live in. However, the influence of Maya is no less. You can see that they build buildings here 100 to 125 storey’s high. This is said to be the pomp of Maya. The splendour of Maya is such that even if you invite someone to go to heaven, he would say that it is heaven for him here. This is called the splendour of Maya. However, you children understand that this is an old village. It is called hell, the old world, and that, too, in the extreme depths of hell. The golden age is called heaven. These words are already used. Everyone calls this a vicious world. Heaven was the viceless world. Heaven is called the viceless world and hell is called the vicious world. Why doesn’t something so simple sit in anyone’s intellect? Human beings are experiencing so much sorrow! There continue to be so many wars and so much fighting. Day by day, they manufacture such bombs etc. that, as soon they are dropped, people would die. However, human beings with degraded intellects don’t understand what is to happen now. No one, except the Father, can explain what is going to happen. The new world is being established in an incognito way and then the old world is going to be destroyed. You children are called incognito warriors. Does anyone understand that you are at war? Your war is with the five vices. You tell everyone to become pure. You are all the children of the one Father. The children of Prajapita Brahma are all brothers and sisters. You must explain in the right way. Prajapita Brahma has many children, not just one. The very name is the Father of the People (Prajapita). A physical father is never called the Father of the People. Since Prajapita Brahma exists, all his children must be brothers and sisters, Brahma Kumars and Kumaris. However, they don’t understand this; it is as though their intellects are like stone; they don’t even try to understand. The children of Prajapita Brahma are all brothers and sisters; they cannot indulge in vice. It is essential to have the word “Prajapita” on the board. You must definitely write this word. Just writing “Brahma” there isn’t as much impact. Therefore the correct words have to be written on the board. This is most essential. Even some females have the name Brahma. They have run out of names and so they have given the names of males to females. Where could they bring so many names from? Everything happens according to the drama plan. To become faithful and obedient to the Father is not like going to your aunty’s home! Bap and Dada are together. You cannot tell which one is speaking. This is why Shiv Baba says: People cannot even understand My directions. Whether you are told something right or wrong, always consider it to be Shiv Baba who is telling you and He will be responsible. Even though this one may say something that causes harm, that One is responsible and He will therefore put everything right. Continue to consider them to be Shiv Baba’s directions and there will be a lot of progress. However, some of you find this difficult to understand; you then continue to follow your own directions. The Father comes from so far away to give you children directions and to explain to you. No one else has this spiritual knowledge. Think about this throughout the whole day. What should you write so that people can understand? You should write such simple words that people’s vision falls on it. You should explain in such a way that there is no need for anyone to ask questions. Tell them that the Father says: Consider yourself to be a soul and remember Me and all your sorrow will be removed. Those who stay in remembrance very well will claim a high status. This is a matter of just a second. People ask so many different types of question; you mustn’t answer them all. Tell them: Don’t ask too many questions! First of all, have faith in one thing! If you get caught in a jungle of questions, you won’t be able to find your way out again. It is just as when people get caught in a fog and it becomes difficult for them to find their way. It is the same here. People get caught up with Maya so much. Therefore, first of all, just tell everyone one thing: You are an imperishable soul. The Father too is imperishable and the Purifier. You are impure. Now, you either have to go back home or to the new world. Souls will continue to come down to the old world until the end. Those who don’t study fully will definitely come at the end. The account is clear and it can be understood who will come first by how much you all study. This is also seen in a school. Race to the goal, touch it and come back! The one who comes back first receives a prize. This aspect is unlimited. The prize you receive is unlimited. The Father says: Stay on the pilgrimage of remembrance. You have to imbibe divine virtues. It is here that you have to become full of all virtues, and that is why Baba asks you to keep a chart. Keep a chart of the pilgrimage of remembrance and you will understand whether you are in profit or loss. However, some children don’t keep it. Baba asks you children to do this, but you don’t do it. Very few do it and this is why the rosary of only a few is created. Eight receive the highest scholarship and then 108 have plus marks. Who will claim plus marks? Those who are to become emperors and empresses. There is only a very slight difference. The Father says: First of all, consider yourselves to be souls and remember the Father! This is the pilgrimage of remembrance. Just give this message from the Father. There is no need to speak too much. Simply say: Manmanabhav! Renounce all relations of bodies! Remove everyone of the old world from your intellect because you now have to become bodiless and return home. Here, Baba reminds you but you don’t remember Him at all throughout the whole day and you don’t follow shrimat either; it doesn’t sit in your intellect. The Father says: If you want to go to the new world, become satopradhan from tamopradhan. Baba gave you your fortune of the kingdom and you then lost it while taking 84 births. There is no question of hundreds of thousands of years. Many children don’t know Alpha, they continue to ask many questions. The Father says: First of all, constantly remember Me alone and your sins will be cut away. Also imbibe divine virtues and you will become deities. There is no need to ask anything else. When they don’t understand Alpha, but simply continue to speak about beta and theta, you yourself become confused and then distressed. The Father says: By first of all understanding Alpha, you will understand everything. By understanding Me from Me you will come to understand everything. There will be nothing left for you to understand. This is why you are given seven days. You can understand a great deal in seven days. However, it is numberwise among those who understand this. Some don’t understand anything at all. How could they become kings or queens? Would they rule over one person? Each one has to create his own subjects. A lot of time is wasted. The Father says that they are poor and helpless. No matter how great a status they may have, the Father knows that all of it is going to turn to dust. Little time remains. At the time of destruction, those who have non-loving intellects will be destroyed. You can understand that we souls have such loving intellects. Some say that they are only able to stay in remembrance for one or two hours. Is it that you only love your physical father for one or two hours? You continue to say “Baba, Baba,” throughout the whole day. Here, although you say “Baba, Baba”, there isn’t that deep love. You are repeatedly told to remember Shiv Baba. You have to have true remembrance. You mustn’t try to be too clever in this. There are many who say: I remember Shiv Baba a great deal. In that case, they should be flying: Baba, I’m now going to go on service to bring benefit to many. The more people you give this message to, the more you will stay in remembrance. Many daughters say that they are in bondage. However, the whole world is in bondage! The bondages have to be cut tactfully. There are many methods. For instance, if you were to die tomorrow, who would look after your children? Definitely, someone or other would emerge to look after them. On the path of ignorance you would even get married again. At this time, to get married again is a big problem. Just give someone a little money and tell that person to look after the children. This is your birth of dying alive. When you die alive, who looks after everything for you? Surely a nurse would have to be employed. What cannot be accomplished with money? You definitely have to become free from bondage. Those who have a keen interest in doing service will go running to serve; they are dead to the world. Here, the Father says: You also have to uplift your friends and relatives etc. Give everyone the message of “Manmanabhav” so that they can become satopradhan from tamopradhan. Only the Father tells you this. All the others come down from up above. Their followers also continue to come down behind them. For instance, Christ brought everyone down. When they become peaceless from having played their parts down here, they say they want peace. They were sitting in peace and then they had to follow their preceptor down here. Then they call out: O Purifier, come! Look how the play is made! They will come at the end to achieve their aim. Some children have had visions. They will come and achieve their aim of becoming “Manmanabhav”. You are now changing from beggars to princes. Those who are wealthy at this time will then become beggars. It is a wonder! No one knows this play at all. The whole kingdom is being established. There will be some there who are poor too, won’t there? A very far-sighted intellect is needed to understand this. At the end, you will have visions of how you will all be transferred. You are studying for the new world. You are now at the confluence. After you have studied, you will pass and go into the deity clan. At the moment you are in the Brahmin clan. No one else can understand these things. It doesn’t sit in anyone’s intellect, even slightly, that God is teaching. Incorporeal God definitely comes here. This drama is created in a very wonderful way. You understand the drama and you play your parts. You have to use the picture of the Trimurti to explain that establishment takes place through Brahma. Destruction will take place automatically. They have simply given a name. This drama is predestined. The main thing is to consider yourselves to be souls and remember the Father so that the rust can be removed. The better you study at school, the greater your income. You receive health and wealth for 21 births; this is not a small thing! Here, although someone has wealth, there won’t be time for his children and grandchildren to eat from that. The father used everything he had for service here. Therefore he accumulated so much! Not everyone’s wealth will accumulate. There are so many millionaires, but their wealth will not be used. The Father will not accept it or He would have to give a return. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Create methods to cut your bondages. Have deep love in your heart for the Father. Give everyone the Father’s message and bring benefit to everyone.
  2. Understand this unlimited play with a far-sighted intellect. Pay full attention to the study of changing from a beggar to a prince. Keep a true chart of remembrance.
Blessing: May you become an embodiment of fearless authority who reveals the one Father on the basis of truth.
Truth is the basis of revelation. In order to reveal the Father, speak with fearlessness and as an embodiment of authority, not with hesitation. When those with many opinions just accept that the Father of all of us is One, that only He carries out this task, that all of us are the children of the One and that He is the true One, the flag of victory will then be hoisted. With this belief, you will return to the land of liberation and then, when you come down to play your own parts, this sanskar of “God is One” will emerge. This is the awareness in the golden age
Slogan: To tolerate something is to reveal your own form of power.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 23 DECEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 23 December 2020

Murli Pdf for Print : – 

23-12-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – यह पतित दुनिया एक पुराना गांव है, यह तुम्हारे रहने लायक नहीं, तुम्हें अब नई पावन दुनिया में चलना है”
प्रश्नः- बाप अपने बच्चों को उन्नति की कौन सी एक युक्ति बताते हैं?
उत्तर:- बच्चे, तुम आज्ञाकारी बन बापदादा की मत पर चलते रहो। बापदादा दोनों इक्ट्ठे हैं, इसलिए अगर इनके कहने से कुछ नुकसान भी हुआ तो भी रेस्पान्सिबुल बाप है, सब ठीक कर देगा। तुम अपनी मत नहीं चलाओ, शिवबाबा की मत समझकर चलते रहो तो बहुत उन्नति होगी।

ओम् शान्ति। पहली-पहली मुख्य बात रूहानी बच्चों को रूहानी बाप समझाते हैं कि अपने को आत्मा निश्चय कर बैठो और बाप को याद करो तो तुम्हारे सब दु:ख दूर हो जायेंगे। वो लोग आशीर्वाद करते हैं ना। यह बाप भी कहते हैं – बच्चों, तुम्हारे सब दु:ख दूर हो जायेंगे। सिर्फ अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। यह तो अति सहज है। यह है भारत का प्राचीन सहज राजयोग। प्राचीन का भी टाइम तो चाहिए ना। लांग लांग भी कितना? बाप समझाते हैं पूरे 5 हज़ार वर्ष पहले यह राजयोग सिखाया था। यह बाप बिगर कोई समझा नहीं सकते और बच्चों बिगर कोई समझ न सके। गायन भी है आत्मायें बच्चे और परमात्मा बाप अलग रहे बहुकाल….. बाप ही कहते हैं तुम सीढ़ी उतरते-उतरते पतित बन पड़े हो। अब स्मृति आई। सब चिल्लाते हैं – हे पतित-पावन…… कलियुग में पतित ही होते हैं। सतयुग में होते हैं पावन। वह है ही पावन दुनिया। यह पुरानी पतित दुनिया रहने लायक नहीं है। परन्तु माया का भी प्रभाव कोई कम नहीं है। यहाँ देखो तो 100-125 मंजिल के बड़े-बड़े मकान बनाते रहते हैं। इनको माया का पाम्प कहा जाता है। माया का जलवा ऐसा है जो कहो स्वर्ग चलो तो कह देते हमारे लिए स्वर्ग तो यहाँ ही है, इनको माया का जलवा कहा जाता है। परन्तु तुम बच्चे जानते हो यह तो पुराना गांव है, इनको कहा जाता है नर्क, पुरानी दुनिया सो भी रौरव नर्क। सतयुग को कहा ही जाता है स्वर्ग। यह अक्षर तो हैं ना। इनको विशश वर्ल्ड तो सब कहेंगे। वाइसलेस वर्ल्ड तो यह स्वर्ग था। स्वर्ग को कहा ही जाता है वाइसलेस वर्ल्ड, नर्क को विशश वर्ल्ड कहा जाता है। इतनी भी सहज बातें क्यों नहीं किसकी बुद्धि में आती हैं! मनुष्य कितने दु:खी हैं। कितने लड़ाई-झगड़े आदि होते रहते हैं। दिन-प्रतिदिन बॉम्ब्स आदि भी ऐसे बनाते रहते हैं, जो गिरे और मनुष्य खत्म हो जाएं। परन्तु तुच्छ बुद्धि मनुष्य समझते नहीं हैं कि अभी क्या होने वाला है। यह बातें कोई समझा नहीं सकते सिवाए बाप के, क्या होने वाला है? पुरानी दुनिया का विनाश होना है और नई दुनिया की स्थापना भी गुप्त हो रही है।

तुम बच्चों को कहा ही जाता है – गुप्त वारियर्स। कोई समझते हैं क्या कि तुम लड़ाई कर रहे हो। तुम्हारी लड़ाई है ही 5 विकारों से। सबको कहते हो पवित्र बनो। एक बाप के बच्चे हो ना। प्रजापिता ब्रह्मा के बच्चे तो सब भाई-बहन हुए ना। समझाने की बड़ी युक्तियाँ चाहिए। प्रजापिता ब्रह्मा के तो ढेर बच्चे हैं, एक तो नहीं। नाम ही है प्रजापिता। लौकिक बाप को कभी प्रजापिता नहीं कहेंगे। प्रजापिता ब्रह्मा है तो उनके सब बच्चे आपस में भाई-बहन, ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ ठहरे ना। परन्तु समझते नहीं। जैसे पत्थर बुद्धि हैं, समझने की कोशिश भी नहीं करते। प्रजापिता ब्रह्मा के बच्चे भाई-बहन हो गये। विकार में तो जा न सकें। तुम्हारे बोर्ड पर भी प्रजापिता अक्षर बहुत जरूरी है। यह अक्षर तो जरूर डालना चाहिए। सिर्फ ब्रह्मा लिखने से इतना जोरदार नहीं होता है। तो बोर्ड में भी करेक्ट अक्षर लिख सुधारना पड़े। यह है बहुत जरूरी अक्षर। ब्रह्मा नाम तो फीमेल का भी है। नाम ही खुट गये हैं तो मेल का नाम फीमेल पर रख देते हैं। इतने नाम लाये कहाँ से? है तो सब ड्रामा प्लैन अनुसार। बाप का वफादार, आज्ञाकारी बनना कोई मासी का घर नहीं है। बाप और दादा दोनों इक्ट्ठे हैं ना। समझ नहीं सकते हैं यह कौन है? तब शिवबाबा कहते हैं मेरी आज्ञा को भी समझ नहीं सकते हैं। उल्टा कहें या सुल्टा, तुम समझो शिवबाबा कहते हैं तो रेस्पॉन्सिबुल वह हो जायेगा। इनके कहने से कुछ नुकसान हुआ तो भी रेस्पान्सिबुल वह होने से, वह सब ठीक कर देगा। शिवबाबा का ही समझते रहो तो तुम्हारी उन्नति बहुत होगी। परन्तु मुश्किल समझते हैं। कोई फिर अपनी मत पर चलते रहते हैं। बाप कितना दूर से आते हैं तुम बच्चों को डायरेक्शन देने, समझाने। और कोई पास तो यह स्प्रीचुअल नॉलेज है नहीं। सारा दिन यह चिंतन चलना चाहिए – क्या लिखें जो मनुष्य समझें। ऐसे-ऐसे सीधे अक्षर लिखने चाहिए जो मनुष्यों की दृष्टि पड़े। तुम ऐसा समझाओ जो कोई प्रश्न पूछने की दरकार ही न पड़े। बोलो, बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझ मुझे याद करो तो सब दु:ख दूर हो जायेंगे। जो अच्छी रीति याद में रहेंगे वही ऊंच पद पायेंगे। यह तो सेकेण्ड की बात है। मनुष्य क्या-क्या पूछते रहते हैं – तुम कुछ भी नहीं बताओ। बोलो, जास्ती पूछो मत। पहले एक बात निश्चय करो, प्रश्नों के जास्ती जंगल में पड़ जायेंगे तो फिर निकलने का रास्ता मिलेगा नहीं। जैसे फागी में मनुष्य मूंझ जाते हैं तो फिर निकल नहीं सकते हैं, यह भी ऐसे है मनुष्य कहाँ से कहाँ माया तरफ निकल जाते हैं इसलिए पहले सबको एक ही बात बताओ – तुम तो आत्मा हो अविनाशी। बाप भी अविनाशी है, पतित-पावन है। तुम हो पतित। अब या तो घर जाना है या नई दुनिया में। पुरानी दुनिया में पिछाड़ी तक आते रहते हैं। जो पूरा पढ़ेंगे नहीं वह तो जरूर पीछे आयेंगे। कितना हिसाब है और फिर पढ़ाई से भी समझा जाता है पहले कौन जायेगा? स्कूल में भी निशानी दिखाते हैं ना। दौड़ी पहन हाथ लगाकर आओ। पहले नम्बर वाले को इनाम मिलता है। यह है बेहद की बात। बेहद का इनाम मिलता है। बाप कहते हैं याद की यात्रा पर रहो। दैवीगुण धारण करने हैं। सर्वगुण सम्पन्न यहाँ बनना है इसलिए बाबा कहते हैं चार्ट रखो। याद की यात्रा का भी चार्ट रखो तो पता पड़ेगा कि हम फायदे में हैं या घाटे में? परन्तु बच्चे रखते नहीं हैं। बाबा कहते हैं लेकिन बच्चे करते नहीं। बहुत थोड़े करते हैं इसलिए माला भी कितनी थोड़ों की ही है। 8 बड़ी स्कालरशिप लेंगे फिर 108 प्लस में रहते हैं ना। प्लस में कौन जायेंगे? बादशाह और रानी। बहुत ज़रा सा फ़र्क रहता है।

तो बाप कहते हैं पहले अपने को आत्मा समझो और बाप को याद करो – यही है याद की यात्रा। बस यही बाप का मैसेज देना है। तीक-तीक करने की दरकार नहीं, मनमनाभव। देह के सब सम्बन्ध छोड़, पुरानी दुनिया में सबका बुद्धि से त्याग करना है क्योंकि अब वापिस जाना है, अशरीरी बनना है। यहाँ बाबा याद दिलाते हैं फिर सारे दिन में बिल्कुल याद भी नहीं करते, श्रीमत पर नहीं चलते हैं। बुद्धि में बैठता नहीं है। बाप कहते हैं नई दुनिया में जाना है तो तमोप्रधान से सतोप्रधान बनना है। बाबा ने हमको राज्य-भाग्य दिया, हमने फिर ऐसे गंवाया, 84 जन्म लिए। लाखों वर्ष की बात नहीं, बहुत बच्चे अल्फ को न जानने कारण फिर बहुत प्रश्न पूछते रहते हैं। बाप कहते हैं पहले मामेकम् याद करो तो पाप कट जायें और दैवीगुण धारण करो तो देवता बन जायेंगे और कुछ पूछने की दरकार नहीं। अल्फ न समझ बे ते की तीक-तीक करने से खुद भी मूंझ जाते हैं फिर तंग हो पड़ते हैं। बाप कहते हैं पहले अल्फ को जानने से सब कुछ जान जायेंगे। मेरे द्वारा मेरे को जानने से तुम सब कुछ जान जायेंगे। बाकी जानने का कुछ रहेगा नहीं। इसलिए 7 रोज़ रखे जाते हैं। 7 रोज़ में बहुत समझ सकते हैं। परन्तु नम्बरवार समझने वाले होते हैं। कोई तो कुछ भी समझते नहीं। वह क्या राजा-रानी बनेंगे। एक के ऊपर राजाई करेंगे क्या? हर एक को अपनी प्रजा बनानी है। टाइम बहुत वेस्ट करते हैं। बाप तो कहते हैं बिचारे हैं। भल कितने भी बड़े-बड़े मर्तबे वाले हैं, परन्तु बाप जानते हैं यह तो सब कुछ मिट्टी में मिल जाना है। बाकी थोड़ा समय है। विनाश काले विपरीत बुद्धि वालों का तो विनाश होना है। हम आत्माओं की प्रीत बुद्धि कितनी है, वह तो समझ सकते हैं। कोई कहते हैं एक-दो घण्टे याद रहती है! क्या लौकिक बाप से तुम एक-दो घण्टा प्रीत रखते हो? सारा दिन बाबा-बाबा करते रहते हो। यहाँ भल बाबा-बाबा कहते हैं परन्तु हड्डी प्रीत थोड़ेही है। बार-बार कहते हैं शिवबाबा को याद करते रहो। सच-सच याद करना है। चालाकी चल न सके। बहुत हैं जो कहते हैं हम तो शिवबाबा को बहुत याद करते हैं फिर वह तो उड़ने लग पड़े। बाबा बस हम तो जाते हैं सर्विस पर बहुतों का कल्याण करने। जितना बहुतों को पैगाम देंगे उतना याद में रहेंगे। बहुत बच्चियाँ कहती हैं बन्धन है। अरे, बन्धन तो सारी दुनिया को है, बन्धन को युक्ति से काटना है। युक्तियाँ बहुत हैं, समझो कल मर पड़ते हैं फिर बच्चे कौन सम्भालेंगे? जरूर कोई न कोई सम्भालने वाले निकल पड़ेंगे। अज्ञान काल में तो दूसरी शादी कर लेते हैं। इस समय तो शादी भी मुसीबत है। किसको थोड़ा पैसा देकर बोलो बच्चों का सम्भालो। तुम्हारा यह मरजीवा जन्म है ना। जीते जी मर गये फिर पीछे कौन सम्भालेगा? तो जरूर नर्स रखनी पड़े। पैसे से क्या नहीं हो सकता है। बन्धनमुक्त जरूर बनना है। सर्विस के शौक वाले आपेही भागेंगे। दुनिया से मर गये ना। यहाँ तो बाप कहते हैं मित्र-सम्बन्धियों आदि का भी उद्धार करो। सबको पैगाम देना है – मनमनाभव का, तो तमोप्रधान से सतोप्रधान बन जायें। यह बाप ही कहते हैं और तो ऊपर से आते हैं। उनकी प्रजा भी उनके पिछाड़ी आती रहेगी। जैसे क्राइस्ट सबको नीचे ले आते हैं। नीचे पार्ट बजाते-बजाते जब अशान्त होते हैं तो कहते हैं हमको शान्ति चाहिए। बैठे तो थे शान्ति में। फिर प्रीसेप्टर पिछाड़ी आना पड़ता है। फिर कहते हैं हे पतित-पावन आओ। कैसा खेल बना हुआ है। वह अन्त में आकर लक्ष्य लेंगे। बच्चों ने साक्षात्कार किया हुआ है। मनमनाभव का लक्ष्य आकर लेंगे। अभी तुम बेगर टू प्रिन्स बनते हो। इस समय के जो साहूकार हैं, वो बेगर बनेंगे। वन्डर है। इस खेल को जरा भी कोई नहीं जानते हैं। सारी राजधानी स्थापन हो रही है। कोई तो गरीब भी बनेंगे ना। यह बड़ी दूरादेश बुद्धि से समझने की बातें हैं। पिछाड़ी में सब साक्षात्कार होगा हम कैसे ट्रांसफर होते हैं। तुम पढ़ते हो नई दुनिया के लिए। अभी हो संगम पर। पढ़कर पास करेंगे तो दैवी कुल में जायेंगे। अभी ब्राह्मण कुल में हैं। यह बातें कोई समझ न सके। भगवान पढ़ाते हैं, जरा भी किसकी बुद्धि में नहीं बैठता। निराकार भगवान जरूर आयेगा ना। यह ड्रामा बड़ा वन्डरफुल बना हुआ है, उसको तुम जानते हो और पार्ट बजा रहे हो। त्रिमूर्ति के चित्र पर भी समझाना पड़े – ब्रह्मा द्वारा स्थापना। विनाश तो ऑटोमेटिकली होना ही है। सिर्फ नाम रख दिया है। यह भी ड्रामा बना हुआ है। मुख्य बात है अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो तो जंक उतर जाए। स्कूल में जितना अच्छी रीति पढ़ेंगे, बड़ी आमदनी होगी। तुमको 21 जन्म के लिए हेल्थ वेल्थ मिलती है, कम बात है क्या। यहाँ भल वेल्थ है परन्तु टाइम नहीं है जो पुत्र-पोत्रे खा सकें। बाप ने सब कुछ इस सेवा में लगा दिया तो कितना जमा हो गया। सबका थोड़ेही जमा होता है। इतने लखपति हैं, पैसा काम आयेगा नहीं। बाप लेंगे ही नहीं जो फिर देना पड़े। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बन्धन काटने की युक्ति रचनी है। ज़िगरी बाप से प्रीत रखनी है। बाप का सबको पैगाम दे, सबका कल्याण करना है।

2) दूरादेशी बुद्धि से इस बेहद के खेल को समझना है। बेगर टू प्रिन्स बनने की पढ़ाई पर पूरा ध्यान देना है। याद का सच्चा-सच्चा चार्ट रखना है।

वरदान:- सत्यता के आधार पर एक बाप को प्रत्यक्ष करने वाले, निर्भय अथॉरिटी स्वरूप भव
सत्यता ही प्रत्यक्षता का आधार है। बाप को प्रत्यक्ष करने के लिए निर्भय और अथॉरिटी स्वरूप बनकर बोलो, संकोच से नहीं। जब अनेक मत वाले सिर्फ एक बात को मान लेंगे कि हम सबका बाप एक है और वही अब कार्य कर रहे हैं, हम सब एक की सन्तान एक हैं और यह एक ही यथार्थ है..तो विजय का झण्डा लहरा जायेगा। इसी संकल्प से मुक्तिधाम जायेंगे और फिर जब अपना-अपना पार्ट बजाने आयेंगे तो पहले यही संस्कार इमर्ज होंगे कि गाड इज़ वन। यही गोल्डन एज की स्मृति है।
स्लोगन:- सहन करना ही स्वयं के शक्ति रूप को प्रत्यक्ष करना है।

TODAY MURLI 23 DECEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 23 December 2019

23/12/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, to follow shrimat at every step is to have the highest chart. The children who pay regard to shrimat will definitely study the murli.
Question: Which question should no one ask God’s children?
Answer: No one should ask you children: “Are you happy and content?”, because you say that you are constantly content. You were concerned about finding the Father who lives in the land beyond, in Brahmand. Now that you have found Him, why should you be worried about anything? Even though you may be unwell, you still say that you are happy and content. God’s children are not concerned about anything. When the Father sees that someone is being attacked by Maya, He asks: Child, are you happy and content?

Om shanti. The Father explains: It is in the intellects of you children that Baba is the Father, the Teacher and the Supreme Guru. You must surely be in this remembrance. No one else can teach you this remembrance. The Father alone comes every cycle and teaches you this. He is the Ocean of Knowledge, the Purifier. Now that you have received the third eye of knowledge, a divine intellect, this can be explained to you. Even though you children understand the knowledge, you forget the Father, and so how could you remember the Teacher and the Guru? Maya is so powerful that she makes you forget all three forms of the Father. You then say: I have been defeated. In fact, you earn multimillions at every step, but how could you accumulate any of it if you are defeated? Deities are portrayed holding a lotus. This study is taught by God. Such a study could never come from a human being. Although the deities are praised, the highest of all is the one Father. So, what greatness do they have? Today, they have a donkeyship” and tomorrow they will have the kingdom. You are now making effort to become those. You know that many fail in this effort. Knowledge is very easy and yet so few of you pass! Why? Because Maya repeatedly makes you forget. The Father tells you to keep a chart of your remembrance, but you are unable to write it. To what extent do you sit and write it? When you do write, it is sometimesup and sometimes down. Those who follow shrimat at every step have the highest chart. The Father knows that perhaps these poor ones feel ashamed. Otherwise, shrimat would be put into practice. Hardly one or two per cent write anything. Because they don’t have much regard for shrimat, even when they receive a murli, they don’t read it. It would definitely touch their hearts that Baba is telling the truth when He says that they are not reading the murli. In that case, what can they teach others? The Father says: Remember Me and you will become the masters of heaven. Both the Teacher and the Bestower of Salvation are included with the Father in this. The whole of this knowledge is included within these few words. Even though the Father explains the same things, you come here to revise them. You yourselves say that you forget, and this is why you come here to revise them. Even though some of you do this, you are unable to revise them properly. If it is not in someone’s fortune, what effort would he make? The one Father inspires all of you to make this effort. No one can be shown any favouritism in this. In other studies, a teacher is called to give extra tuition. This One teaches everyone identically in order for you all to make your own fortune. To what extent would He sit and teach each one of you individually? There are so many children here. In other studies, wealthy people would offer something to the teacher to give their children extra tuition. A teacher knows when someone is dull, and so he would teach him extra to make him worthy of winning a scholarship. This Teacher does not do this. This One teaches everyone the same. When a teacher makes extra effort with a pupil, it means that he is showing some mercy. Some accept money to spend extra time on a student and make him study more to become clever. This Father gives everyone the same great mantra: Manmanabhav; that’s all! The Father alone is the Purifier and it is only by having remembrance of Him that you will become pure. It is in the hands of you children – the more you remember Him, the purer you will become! Everything depends on the effort each one of you makes. People go on pilgrimages. Some go there on seeing others go. You children have been on many pilgrimages. What was the result of that? You continued to come down. What were those pilgrimages for? What will you gain from them? You didn’t know anything. This is now your pilgrimage of remembrance. There is just this one word: Manmanabhav! This pilgrimage of yours is eternal. People say that they have been going on pilgrimages from time immemorial. You now have knowledge, so you say that you have this pilgrimage every cycle. The Father Himself comes and teaches you this pilgrimage. People stumble along so much on those pilgrimages and make so much noise. This pilgrimage is of dead silence: you just have to remember the one Father. This is how you become pure. The Father has taught you this true spiritual pilgrimage. You have been going on those pilgrimages for birth after birth. Nevertheless, you continued to sing: We searched for God everywhere and yet we still remain distant from Him. When they return from a pilgrimage they indulge in vice, and so what benefit was there? You children know that this is now the most auspicious confluence age when the Father comes. One day, everyone will know that the Father has come. How would anyone eventually find God? No one knows this. Some think that God is in cats and dogs. Would you find God in them? There is so much falsehood. Their food is false (wrong), their drink is false and they spend their nights in falsehood. This is why this is the land of falsehood. Only heaven is called the land of truth. Bharat was heaven. Everyone in heaven was a resident of Bharat and those same residents are today in hell. You sweet children know that you are now taking shrimat from the Father and making Bharat into heaven once again. At that time, no one else exists in Bharat. The whole world becomes pure. At present, there are so many religions. The Father gives you the knowledge of the whole tree. He reminds you once again that you were deities and that you then became merchants and then shudras. You have now become Brahmins. Did you ever hear these words from sannyasis or from scholars or pandits? The Father explains the meaning of “Hum so, so hum” in such an easy way! “Hum so” means I, this soul, go around the cycle in this way. Those people say: “I, the soul, am the Supreme Soul, and the Supreme Soul is myself, the soul.” Not a single person knows the real meaning of “Hum so”. The Father says: You should constantly keep the mantra “Hum so” in your intellects. Otherwise, how could you become rulers of the globe? Those people don’t even understand the meaning of the cycle of 84 births. “The rise and fall of Bharat” has been remembered. You go through the stages of satopradhan, sato, rajo and tamo: the sun dynasty, the moon dynasty etc. You children now know everything about this. Only the one Father, the Seed, is called the Ocean of Knowledge. He doesn’t enter the world cycle. It is not that we souls become the Supreme Soul; no. The Father makes us as knowledge-full as He is. He does not make us into God like He is. You have to understand these things very clearly, because only then can you rotate the cycle in your intellects. You can use your intellects to understand how you go around the cycle of 84 births. The time, the castes and the dynasties are all included in this. You become the most elevated ones of all through this knowledge. When you have knowledge, you can then give it to others. At the time of taking examinations in those schools, you are given test papers which come from abroad. There must be a Senior Education Minister who checks everything even for those who are studying abroad. Who would check your papers here? You have to do this for yourself. You can become whatever you want. By studying this study, you can claim whatever status you want from the Father. The more you remember the Father and serve others, the more fruit you will receive. Because your kingdom is being established, you know that subjects are also needed and so you are concerned about doing service. There is no need for any advisers etc. there. It is here, where they have less wisdom, that they need advisers. Many come here to the Father to seek advice: They ask: Baba, what should I do with the money I have? What business should I do? The Father says: Do not bring your worldly business matters etc. here. Yes, if someone feels hopeless or disheartened, Baba would give him some advice to reassure him. However, that is not My business. My business is to make you pure from impure and to make you into the masters of the world. You constantly have to continue to take shrimat from the Father. At present, everyone gives devilish directions. There, it is the land of happiness. You would never be asked there: Are you happy and content? Is your health OK? These things are only asked here. These expressions do not exist there. There are no expressions of the land of sorrow there. However, the Father knows that when Maya interferes with the children, He can ask: Are you OK? Are you happy and content? Other human beings don’t understand the expressions we use here. When people ask you how you are, you can tell them that you are the children of God, and so there is no need for them to ask about your welfare. We were concerned about finding the Father who lives in the land beyond, in the brahm element. Now that we have found Him, why should we worry about anything else? You should constantly remember whose children you are. You have this knowledge in your intellects. When you become pure, the war will begin. When they ask you how you are, you can say that you are always happy and content. Even when you are sick, you are still content. When you remain in remembrance of Baba, you are even more content here than you are in heaven because you have found the Father who gives you the kingdom of heaven. He makes us so worthy. So, why should we worry about anything? What would the children of God be worried about? The deities are not worried about anything there. God is higher than the deities. So, what would the children of God be worried about? Baba is teaching us. Baba is our Teacher and Satguru. Baba places a crown on us. A child who is to wear his father’s crown would be called in English a “crown prince”. You can understand that, in the golden age, there is nothing but happiness. You will attain that happiness in a practical way when you go there. Only you know what exists in the golden age and where you will go when you leave your present bodies. The Father is now teaching you in a practical way. You know that you truly do go to heaven. When those people say that so-and-so has gone to heaven, they neither know what heaven is nor what hell is. It has been written that the duration of a cycle is hundreds of thousands of years. Whilst you have been listening to that knowledge for many births you have continued to come down. Your intellects now know where you were and where you have fallen to. You have continued to come down from the golden age and have now reached the most auspicious confluence age. The Father comes every cycle to teach you. You stay with the Father do you not? That One is our true Satguru who shows us the path of liberation and liberation-in-life. Just as this Baba learns, so you children should observe him and learn in the same way. You should be cautious at every step. Your thoughts, words and deeds have to be very pure. There should be no type of dirt or rubbish inside you. You children repeatedly forget the Father. When you forget the Father, you also forget His teachings. You even forget that you are students. This study is very easy. There is magic in having remembrance of the Father. No other father can teach you how to perform such magic. It is through this magic that you become satopradhan from tamopradhan. You children know that Shiv Baba established through Brahma the original, eternal, deity religion which lasted through the golden and silver ages, for half the cycle. Then, later, those of the other religions expanded. For instance, when Christ came, there were very few at first. Only when there are many of them can they rule. The Christian religion continues even now; it continues to grow. They know that they have become Christians through ChristChrist came 2000 years ago and expansion is taking place now. Christians would say that they belong to Christ. First, Christ alone comes, and then his religion is established and it then expands. From one, there are two, from two there are four and expansion continues to take place in that way. Look how big the Christian tree has become. The foundation is the deity dynasty. This is why Brahma is called the great-great-grandfather. However, the people of Bharat have forgotten that they are the direct children of the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva. Christians also understand that Adi Dev existed in the past and that this is his human dynasty. However, they would still believe in their Christ. People consider Christ or Buddha etc. to be their father. There is the genealogical tree. Just as there are memorials of Christ in Christian countries, in the same way, you children have done tapasya here and this is why there is your memorial here in Abu. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Go on the true, spiritual pilgrimage of dead silence. Constantly remember the mantra of “Hum so”, because only then will you become the rulers of the globe.
  2. Your thoughts, words and deeds have to be very pure. Let there be no dirt or rubbish inside you. Be cautious at every step and pay regard to shrimat.
Blessing: May you be a fortunate soul who unlocks all treasures with the key of the word “Baba”.
Even if you are unable to know or speak any expansion of knowledge, by just taking the one word “Baba” into your heart and telling others about it from your heart, you become a special soul. In front of the world, you become a great soul worthy of being praised because the one word “Baba” is the key to all treasures and all fortune. The way to use the key is to know it in your heart and to accept with your heart. Say from your heart “Baba” and the treasures become constantly present.
Slogan: You have love for BapDada and so, out of love, sacrifice the old world.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 23 DECEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 23 December 2019

23-12-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – कदम-कदम श्रीमत पर चलना यही हाइएस्ट चार्ट है, जिन बच्चों को श्रीमत का रिगार्ड है वह मुरली जरूर पढ़ेंगे”
प्रश्नः- तुम ईश्वर के बच्चों से कौन-सा प्रश्न कोई भी पूछ नहीं सकता है?
उत्तर:- तुम बच्चों से यह कोई भी नहीं पूछ सकता कि तुम राज़ी खुशी हो? क्योंकि तुम कहते हो हम सदैव राज़ी हैं। परवाह थी पार ब्रह्म में रहने वाले बाप की, वह मिल गया बाकी किस बात की परवाह करनी, तुम भल बीमार हो तो भी कहेंगे हम राज़ी खुशी हैं। ईश्वर के बच्चों को किसी बात की परवाह नहीं। बाप जब देखते हैं इन पर माया का वार हुआ है तो पूछते हैं-बच्चे, राज़ी खुशी हो?

ओम शान्ति। बाप समझाते हैं बच्चों की बुद्धि में यह जरूर होगा कि बाबा बाप भी है, टीचर और सुप्रीम गुरू भी है। इस याद में जरूर होंगे। यह याद कभी कोई सिखला न सके। कल्प-कल्प बाप ही आकर सिखलाते हैं। वह ज्ञान सागर पतित-पावन है। यह अभी समझाया जाता है जबकि ज्ञान का तीसरा नेत्र दिव्य बुद्धि मिली है। बच्चे भल समझते तो होंगे परन्तु बाप को ही भूल जाते हैं तो टीचर-गुरू फिर कैसे याद आयेगा। माया बहुत ही प्रबल है जो बाप के तीनों रूपों को ही भुला देती है। कहते हैं हम हार खा गये। यूँ तो कदम-कदम में पदम हैं परन्तु हार खाने से पदम कैसे होंगे? देवताओं को ही पदम की निशानी देते हैं। यह ईश्वर की पढ़ाई है। ऐसे मनुष्य की पढ़ाई कभी हो न सके। भल देवताओं की महिमा की जाती है फिर भी ऊंच ते ऊंच है एक बाप। बाकी उनकी बड़ाई क्या है। आज गधाई, कल राजाई। अभी तुम पुरूषार्थ कर यह बन रहे हो। जानते हो इस पुरूषार्थ में फेल बहुत होते हैं। ज्ञान तो बहुत सहज है फिर भी इतने थोड़े पास होते हैं। क्यों? माया घड़ी-घड़ी भुला देती है। बाप कहते हैं अपना चार्ट रखो परन्तु लिख नहीं पाते हैं। कहाँ तक बैठ लिखें। अगर लिखते भी हैं तो कभी अप, कभी डाउन। हाइएस्ट चार्ट उन्हों का होता है जो कदम-कदम श्रीमत पर चलते हैं। बाप तो समझेंगे इन बिचारों को लज्जा आती होगी। नहीं तो श्रीमत अमल में लानी चाहिए। 1-2 परसेन्ट मुश्किल लिखते हैं। श्रीमत का इतना रिगार्ड नहीं है। मुरली मिलती है तब भी नहीं पढ़ते हैं। उन्हों को दिल में लगता तो जरूर होगा-बाबा कहते तो सच हैं, हम मुरली नहीं पढ़ते हैं तो औरों को क्या सिखलायेंगे।

बाप तो कहते हैं मुझे याद करो तो स्वर्ग के मालिक बनो, इसमें बाप भी आ गया, पढ़ाने वाला भी आ गया। सद्गति दाता भी आ गया। थोड़े-थोड़े अक्षर में सारा ज्ञान आ जाता है। यहाँ तुम आते ही हो इसको रिवाइज़ करने। भल बाप भी यही समझाते हैं क्योंकि तुम खुद कहते हो हम भूल जाते हैं इसलिए यहाँ आते हैं रिवाइज करने। भल कोई करते भी हैं तो भी रिवाइज नहीं होता। तकदीर में नहीं है तो तदबीर भी क्या करें। तदबीर कराने वाला तो एक ही बाप है, इसमें कोई की पास-खातिरी भी नहीं हो सकती। उस पढ़ाई में तो एकस्ट्रा पढ़ाने लिए टीचर को बुलाते हैं। यह तो तकदीर बनाने के लिए सबको एकरस पढ़ाते हैं। एक-एक को अलग-अलग कहाँ तक पढ़ायेंगे-कितने ढेर बच्चे हैं! उस पढ़ाई में कोई बड़े आदमी के बच्चे होते हैं, ऑफर करते हैं तो उनको एकस्ट्रा भी पढ़ाते हैं। टीचर जानते हैं कि यह डल है, इसलिए पढ़ाकर उनको स्कॉलरशिप लायक बनाते हैं। यह टीचर ऐसा नहीं करते हैं। यह तो सभी को एक जैसा पढ़ाते हैं। एकस्ट्रा पुरूषार्थ माना टीचर कुछ कृपा करते हैं। भल ऐसे तो पैसे भी लेते हैं, खास टाइम दे पढ़ाते हैं, जिससे वह जास्ती पढ़कर होशियार होते हैं। यह बाप तो सबको एक ही महामंत्र देते हैं मनमनाभव। बस। बाप ही एक पतित-पावन है, उनकी ही याद से हम पावन बनेंगे। वह तुम बच्चों के हाथ में है, जितना याद करेंगे उतना पावन बनेंगे। सारा मदार हर एक के पुरूषार्थ पर है। वह तो तीर्थों पर यात्रायें करने जाते हैं। एक-दो को देखकर भी जाते हैं। तुम बच्चों ने भी बहुत यात्रायें की हैं फिर क्या हुआ। नीचे ही गिरते आये हो। यात्रा किसलिए है, इससे क्या मिलेगा! कुछ भी पता नहीं था। अभी तुम्हारी है याद की यात्रा। अक्षर ही एक है – मनमनाभव। यह यात्रा तुम्हारी अनादि है। वह भी कहते हैं हम यह यात्रा अनादि काल से करते आये हैं। अभी तुम ज्ञान सहित कहते हो कि हम कल्प-कल्प यह यात्रा करते हैं। यह यात्रा खुद बाप आकर सिखलाते हैं। उन यात्राओं में कितने धक्के खाते हैं। कितना शोर होता है। यह यात्रा है डेड साइलेन्स की। एक बाप को ही याद करना है, इससे ही पावन बनना है। तुम्हें बाप ने यह सच्ची-सच्ची रूहानी यात्रा सिखलाई है। वह यात्रायें तो तुम जन्म-जन्मान्तर करते ही रहे, फिर भी गाते हैं-चारों तरफ लगाये फेरे…… भगवान से तो दूर ही रहे। यात्रा से आकर फिर विकारों में गिरते हैं तो क्या फायदा। अभी तुम बच्चे जानते हो यह है पुरूषोत्तम संगमयुग, जबकि बाप आये हैं। एक दिन सभी जान जायेंगे कि बाप आया हुआ है। भगवान आखरीन मिलेगा कैसे? यह तो कोई भी नहीं जानते। कोई तो समझते हैं कुत्ते बिल्ली में मिलेगा। क्या इन सबमें भगवान मिलेगा? कितना झूठ है। झूठ ही खाना, झूठ ही पीना, झूठ ही रात बिताना इसलिए यह है ही झूठ खण्ड। सच खण्ड स्वर्ग को कहा जाता है। भारत ही स्वर्ग था। स्वर्ग में सब भारतवासी थे, आज वही भारतवासी नर्क में हैं। यह तो तुम मीठे-मीठे बच्चे जानते हो हम बाप से श्रीमत लेकर भारत को फिर से स्वर्ग बना रहे हैं। उस समय भारत में और कोई होता ही नहीं। सारा विश्व पवित्र बन जाता है। अभी तो कितने ढेर के ढेर धर्म हैं। बाप सारे झाड़ की नॉलेज सुनाते हैं। तुम्हें फिर से स्मृति दिलाते हैं। तुम सो देवता थे फिर वैश्य, शूद्र बने। अभी तुम ब्राह्मण बने हो। यह अक्षर कभी कोई सन्यासी उदासी, विद्वान द्वारा सुने हैं? यह हम सो का अर्थ बाप कितना सहज करके सुनाते हैं। हम सो माना मैं आत्मा, हम आत्मा ऐसे-ऐसे चक्र लगाते हैं। वह तो कह देते हम आत्मा सो परमात्मा, परमात्मा सो हम आत्मा। एक भी नहीं जिसको हम सो के अर्थ का पता हो। बाप कहते हैं यह जो हम सो का मंत्र है, सदा बुद्धि में याद रहना चाहिए। नहीं तो चक्रवर्ती राजा कैसे बनेंगे। वह तो 84 का अर्थ भी नहीं समझते हैं। भारत का ही उत्थान और पतन गाया हुआ है। सतोप्रधान, सतो, रजो, तमो। सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी…….।

अभी तुम बच्चों को सब कुछ मालूम पड़ गया है। एक बाप बीजरूप को ही ज्ञान का सागर कहा जाता है। वह इस सृष्टि चक्र में नहीं आते हैं। ऐसे नहीं कि हम आत्मा सो परमात्मा बन जाते हैं। नहीं, बाप आपसमान नॉलेजफुल बनाते हैं। आप समान गॉड नहीं बनाते, इन बातों को अच्छी रीति समझना चाहिए तब ही बुद्धि में चक्र चल सकता है। तुम बुद्धि से समझ सकते हो कि हम कैसे 84 के चक्र में आते हैं। इसमें समय, वर्ण, वंशावली सब आ जाते हैं। इस नॉलेज से ही ऊंच ते ऊंच बनते हैं। नॉलेज होगी तो औरों को भी देंगे। उन स्कूलों में जब इम्तहान होता है तो पेपर आदि भराते हैं। पेपर विलायत से आते हैं। जो विलायत में पढ़ते होंगे, उनमें भी कोई बड़ा एज्यूकेशन मिनिस्टर होगा तो जांच करते होंगे। यहाँ तुम्हारे पेपर्स की कौन जांच करेगा? तुम खुद ही करेंगे। खुद जो चाहिए सो बनो। पढ़कर जो पद बाप से चाहो वह ले लो। जितना बाप को याद करेंगे, दूसरों की सर्विस करेंगे, उतना ही फल मिलेगा। उन्हें सर्विस करने की फा रहेगी कि राजधानी स्थापन हो रही है तो प्रजा भी तो चाहिए ना। वहाँ वज़ीर आदि की दरकार नहीं रहती। यहाँ तो जब अक्ल कम होता है तब वज़ीर की दरकार होती है। यहाँ बाप के पास भी राय लेने आते हैं-बाबा पैसा है क्या करें? धन्धा कैसे करें? बाप कहते हैं यह दुनिया के धन्धे आदि की बात यहाँ नहीं लाओ। हाँ, कोई दिलशिकस्त हो जाए तो थोड़ा बहुत आथत देने के लिए बता देते हैं। लेकिन यह मेरा कोई धन्धा नहीं है। मेरा धन्धा है तुम्हें पतित से पावन बनाकर विश्व का मालिक बनाने का। तुमको बाप से श्रीमत सदा लेते रहना है। अभी तो सभी की है आसुरी मत। वहाँ तो सुखधाम है। वहाँ कभी ऐसे नहीं पूछेंगे कि राज़ी खुशी हो? तबियत ठीक है? यह अक्षर यहाँ ही पूछा जाता है। वहाँ यह अक्षर होता ही नहीं। दु:खधाम के कोई अक्षर ही नहीं। परन्तु बाप जानते हैं बच्चों में माया की प्रवेशता होने के कारण बाप पूछ सकते हैं कि ठीक-ठाक राज़ी खुशी हो? मनुष्य यहाँ के अक्षर को तो समझ न सकें। कोई मनुष्य पूछे तो कह सकते हो कि हम ईश्वर के बच्चे हैं, हमसे क्या खुश खैराफत पूछते हो? परवाह थी पार ब्रह्म में रहने वाले बाप की, अब वह मिल गया, अब क्या परवाह। यह हमेशा याद रहना चाहिए। हम किसके बच्चे हैं-यह भी बुद्धि में ज्ञान है। जब हम पावन बन जायेंगे फिर लड़ाई शुरू होगी। तुमसे पूछेंगे जरूर। तुम कहेंगे हम तो सदैव राज़ी हैं। बीमार भी हो तो भी राज़ी हो। बाबा की याद में हो तो स्वर्ग से भी यहाँ जास्ती राज़ी हो। जबकि स्वर्ग की बादशाही देने वाला बाप मिला है। हमको कितना लायक बनाते हैं, फिर हमको क्या परवाह है! ईश्वर के बच्चों को किस चीज़ की परवाह। वहाँ देवताओं को भी परवाह नहीं। देवताओं के ऊपर है ईश्वर। तो ईश्वर के बच्चों को क्या परवाह हो सकती है। बाबा हमको पढ़ा रहे हैं। बाबा हमारा टीचर, सतगुरू है। बाबा हमारे ऊपर ताज रखते हैं। इसको इंगलिश में कहते हैं क्राउन प्रिन्स। बाप का ताज बच्चा पहनेगा। तुम समझ सकते हो सतयुग में सुख ही सुख है। प्रैक्टिकल में वह सुख तब पायेंगे जब वहाँ जायेंगे। वह तो तुम ही जानो। सतयुग में क्या होगा, यह शरीर छोड़ हम कहाँ जायेंगे। अभी तुमको प्रैक्टिकल में बाप पढ़ा रहे हैं। तुम जानते हो सच-सच हम स्वर्ग में जाते हैं। वह जो कहते हैं फलाना स्वर्ग में गया परन्तु उन्हें पता नहीं स्वर्ग और नर्क किसको कहा जाता है। कल्प की आयु ही लाखों वर्ष लिख दी है। जन्म-जन्मान्तर यह ज्ञान सुनते-सुनते गिरते आये। अभी तुम्हारी बुद्धि में है कि हम कहाँ से कहाँ आकर गिरे हैं। सतयुग से गिरते ही आये हैं। अभी हम इस पुरूषोत्तम संगमयुग पर पहुँचे हैं। कल्प-कल्प बाप आते हैं पढ़ाने। बाप के पास तुम रहते हो ना। यही हमारा सच्चा-सच्चा सतगुरू है, जो मुक्ति-जीवनमुक्ति का रास्ता बताते हैं। जैसे यह बाबा भी सीखते हैं, ऐसे इनको देख तुम बच्चे भी सीखते हो। कदम-कदम पर सावधानी रखनी होती है। मन्सा-वाचा-कर्मणा बहुत शुद्ध रहना है। अन्दर कोई भी गन्दगी नहीं होनी चाहिए। बाप को घड़ी-घड़ी बच्चे भूल जाते हैं। बाप को भूलने से बाप की शिक्षा भी भूल जाते हैं। हम स्टूडेन्ट हैं, यह भी भूल जाते हैं। है बहुत सहज। बाप की याद में ही करामात है। ऐसी करामात और कोई भी बाप सिखला न सके। इस करामात से ही तमोप्रधान से सतोप्रधान बनते हैं।

तुम बच्चे जानते हो शिवबाबा ने ब्रह्मा द्वारा आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना की है, जो धर्म सतयुग और त्रेता, आधाकल्प चलता है। फिर दूसरे धर्म वाले बाद में वृद्धि को पाते हैं। जैसे क्राइस्ट आया, पहले तो बहुत थोड़े थे। जब बहुत हो जाएं तब राजाई कर सकें। क्रिश्चियन धर्म अभी तक है। वृद्धि होती रहती है। वे जानते हैं कि क्राइस्ट द्वारा हम क्रिश्चियन बनें है। आज से 2 हजार वर्ष पहले क्राइस्ट आया था। अब वृद्धि हो रही है। क्रिश्चियन कहेंगे हम क्राइस्ट के हैं। पहले एक क्राइस्ट आया, फिर उनका धर्म स्थापन होता है, वृद्धि होती जाती है। एक से दो, दो से चार….. फिर ऐसे वृद्धि होती जाती है। अभी देखो क्रिश्चियन का झाड़ कितना हो गया है। फाउण्डेशन है देवी-देवता घराना, इसलिए ब्रह्मा को ग्रेट-ग्रेट ग्रैण्ड फादर कहा जाता है। परन्तु भारतवासियों को यह भूल गया है कि हम परमपिता परमात्मा शिव के डायरेक्ट बच्चे हैं।

क्रिश्चियन भी समझते हैं आदि देव होकर गये हैं, जिसके यह मनुष्य वंशावली हैं। बाकी वह मानेंगे तो अपने क्राइस्ट को ही, क्राइस्ट को, बुद्ध को फादर समझते हैं। सिजरा है ना। जैसे क्राइस्ट का यादगार क्रिश्चियन देश में है। वैसे तुम बच्चों ने यहाँ तपस्या की है तब तुम्हारा भी यादगार यहाँ (आबू में) है। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) डेड साइलेन्स की सच्ची-सच्ची रूहानी यात्रा करनी है। हम सो का मंत्र सदा याद रखना है, तब चक्रवर्ती राजा बनेंगे।

2) मन्सा-वाचा-कर्मणा बहुत शुद्ध रहना है। अन्दर कोई भी गन्दगी न हो। कदम-कदम पर सावधानी रखनी है। श्रीमत का रिगार्ड रखना है।

वरदान:- “बाबा” शब्द की चाबी से सर्व खजाने प्राप्त करने वाली भाग्यवान आत्मा भव
चाहे और कुछ भी ज्ञान के विस्तार को जान नहीं सकते वा सुना नहीं सकते लेकिन एक शब्द “बाबा” दिल से माना और दिल से औरों को सुनाया तो विशेष आत्मा बन गये, दुनिया के आगे महान आत्मा के स्वरूप में गायन योग्य बन गये क्योंकि एक “बाबा” शब्द सर्व खजानों की वा भाग्य की चाबी है। चाबी लगाने की विधि है दिल से जानना और मानना। दिल से कहो बाबा तो खजाने सदा हाजिर हैं।
स्लोगन:- बापदादा से स्नेह है तो स्नेह में पुराने जहान को कुर्बान कर दो।

TODAY MURLI 23 DECEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 23 December 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 22 December 2018 :- Click Here

23/12/18
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
12/03/84

The Easy Way to Spirituality is Contentment.

Today, BapDada was looking at the contentment, the spirituality and the smile of satisfaction of all the children from everywhere who are far away and yet remain close. Contentment is the easy way to experience spirituality and cheerfulness is the easy attainment. Those who have contentment are definitely seen to be embodiments of cheerfulness. To have contentment is to be an embodiment of all attainments. Contentment is the easy way to imbibe all specialities. The treasure of contentment automatically attracts all other treasures towards itself. Contentment is the practical proof of the subject of knowledge. Contentment makes you a carefree emperor. Contentment is the way to remain constantly set on your seat of self-respect. Contentment constantly and easily makes you into a great donor, a world benefactor and a bestower of blessings. Contentment frees you from spinning the cycle of the limitations of “mine and yours” and makes you into a spinner of the discus of self-realisation. Contentment makes you constantly free from negative thoughts and enables you to claim a right to the victorious seat of steadfastness and stability. It enables you to remain stable in the perfect form of having a right to remain constantly seated on BapDada’s heart throne, to wear the tilak of easy remembrance and the crown of the service of world transformation. Contentment is the donation of life in Brahmin life. It is the easy way to progress in Brahmin life. When you are content with yourself and the family, the family is content with you. Whilst living in the midst of any situation, atmosphere or vibration s of upheaval, you remain content. Similarly, those who are embodiments of contentment claim a right to the certificate of being an elevated soul, a victorious jewel. You have to claim three certificates.

1) Contentment of the self with the self. 2) Constant contentment of the Father with the self. 3) Contentment of the Brahmin family with the self.

Through these you can make your present and your future elevated. Even now, there is time to claim the certificate s. You can claim them, but you don’t have too much time. It is late now, but it isn’t too late. Even now, you can move forward with the speciality of contentment. Even now, there is a margin for coming last and going fast and coming first. Later, those who come last will remain last. Therefore, today, BapDada was checking these certificate s. You can checkyourself too. Are you cheerful or are you full of questions? Are you double-foreigners cheerful and content? If all your questions have ended, you remain cheerful. The time for contentment is the confluence age. It is at this time that you have the knowledge of contentment. There, you will remain beyond the knowledge of being content or discontent. It is at this time that there is the treasure of the confluence age. All contented souls are those who give others the treasures of contentment. You are master bestowers, children of the Bestower. You have accumulated this much, have you not? Have you accumulated a fullstock or is there a margin for a little more? If your stock is low, you cannot become a world benefactor. You can only be a benefactor. You have to become equal to the Father. Achcha.

All of you, who have come from this land and abroad, are going back as master almighty authorities, full of all treasures, are you not? Since you have come here, you also have to return. The Father comes here and so He also goes back. You children too come here and go back having become full. You go back to make others equal to the Father. You go back to make your Brahmin family grow. You go back to quench the thirst of thirsty souls. This is why you are going back, is it not? You are not going back due to your own heart’s desire or because of any bondage, but you are going back according to the Father’s directionsfor service for a short time. You are going back with this understanding, are you not? Don’t think that you belong to America or Australia etc., no. BapDada has made you instruments for service and sent you there for a short time. BapDada is sending you there; you are not going there due to your own desire. You don’t say, “My home, my country” etc. No, the Father is sending you to a service place. All of you are always detached and loving to the Father. You don’t have any bondage, not even any bondage of service. The Father has sent you and so He knows. You have become instruments and so you are instruments for as long as and wherever He makes you instruments. You are double light in this way, are you not? You Pandavas are also loving and detached, are you not? No one here has any bondage. To become detached means to be loving. Achcha.

To those who constantly maintain the spirituality of contentment, to those who remain cheerful and give everyone the power of contentment through their every thought, word and deed, to those who make disheartened souls powerful with the treasures, to the constant world benefactors, unlimited carefree emperors, BapDada’s love, remembrance and namaste.

Avyakt BapDada meeting Dadiji and Dadi Janki:

The pair of you being the holy swans of rup (the form) and basant (showering with words) is good. This one (Dadi Janki) prefers mostly to be an embodiment of silence and do service, whereas this one (Dadiji) has to speak. This one goes into solitude whenever she wants. This one prefers to serve through her form. In fact, all of you are “all-round  but this is the partnership of Rup and Basant. In fact, there is a need for both these sanskars. Where words don’t work, the form works, and where the form doesn’t work, then words will work. Therefore, this is a good pairing. All the pairs that are formed are good. That pair was good and this is also good. (Referring to Didi). She has become an incognito river in the drama. Those from abroad also have a lot of love for her. It doesn’t matter. You have seen the other form of Didi. Everyone is so happy to see you. All the Maharathis are together. Brij Indra, Nirmal Shanta – all are companions, even though they are far away. The Shaktis co-operate very well. Because you all place each one of you ahead of the other, you have moved forward, and, because of placing the instrument shaktis ahead, you are all ahead. This is the reason for the growth of service: through this you are making one another move forward. There is love for one another and there is unity. To speak constantly of the specialities of others is to make service grow. There has always been growth through this method and there will continue to be growth. To look constantly at the specialities and to teach others how to see specialities is the thread of the rosary of the gathering. Pearls are also threaded together on a thread. The thread of the gathering is: not to speak about anything except specialities. Because Madhuban is the great land, there is great fortune and great sin too. If someone goes back from Madhuban and speaks wasteful words, then that sin is accumulated. Therefore, always wear the spectacles of seeing specialities. You cannot then see anything wasteful. For instance, when you wear rose-tinted glasses, you cannot see anything that is not rose-coloured. Similarly, always wear the glasses of seeing specialities. Even if you do sometimes see something, don’t speak about it. When you speak about it, you lose your fortune. If there are weaknesses etc., the Father is responsible for those. Who made you instruments? The Father. So to speak about the weaknesses of those who are instruments means to speak about the weaknesses of the Father. Therefore, let no one say anything except something with good wishes for the other.

BapDada sees you jewels as even more elevated than Himself. You are the decoration of the Father. So, the children who decorate the Father are even greater than He is. BapDada is pleased and sings praise of the children. Wah, My jewel So-and-so! Wah, My jewel So-and-so! He continues to sing this praise. The Father never looks at anyone’s weaknesses. Even when He gives a signal, He gives that signal with regard , according to your speciality. Although the Father has the authority, He always gives a signal with that regard. Let this speciality of the Father’s constantly emerge from the children. You have to follow the Father, do you not?

All the main senior sisters (Dadis) are sitting in front of BapDada:

The praise of Janak who was liberated in life is your memorial, is it not? There are the two titles: Liberated-in-life and Videhi (bodiless) – (for Dadi). This one –Dadiji – is a jewel anyway. The jewel of contentment, the jewel of the forehead, the jewel of success – so many jewels! All are jewels and nothing but jewels. No matter how much you try to hide the sparkle of jewels, they cannot remain hidden; a jewel will sparkle even in mud. It will work like a light. Therefore, that is your name and that is the work you do. This one (Dadi Janki) also has those virtues: bodiless and liberated-in-life. You always stay in the depths of the experience of happiness in life. This is called being liberated-in-life. Achcha

Avyakt version: Be humble and construct the new world.

The main basis of being constantly and easily successful in service is humility. To be humble means to maintain your self-respect and it is also the easy way to receive respect from everyone else. To be humble doesn’t mean to bow down, but to make everyone bow down to your speciality and love. The sign of greatness is humility. To the extent that you are humble, you will accordingly be considered great in the heart of everyone. Humility easily makes you egoless. The seed of humility automatically enables you to attain the fruit of greatness. Humility is the easy way to receive blessings from everyone’s heart. The sign of being egoless is humility. When you have the virtue of humility in your attitude, vision, words, contacts and relationships, you become great. Just as the bowing of a tree serves others, so too, to be humble means to become a server and bow down. This is why there has to be the balance of greatness and humility. Those who remain humble attain everyone’s respect. When you are humble, everyone respects you. No one respects those who are arrogant; everyone moves far away from them. Those who are humble give everyone happiness. Wherever they go and whatever they do, they will give happiness to everyone. Whoever comes in contact with them experiences happiness.

The speciality of a server is being a very humble world servant who also has the authority of knowledge. To the extent that you remain humble, you accordingly remain a carefree emperor. Keep a balance of being humble and an authority. The consciousness of being humble and unlimited and of being an instrument are the main bases of successful service. To the extent that you have self-esteem, you also need to have humility. Let there be no arrogance in your self-esteem. Do not feel that you are more elevated than those younger than you. There mustn’t be any feelings of dislike for them. No matter what souls are like, look at them with the vision of mercy. There mustn’t be any arrogance or feeling of insult with others. Let there never be that type of behaviour in your Brahmin birth. When there is no arrogance, you won’t feel insulted even when you are insulted. Such souls would constantly remain humble and busy in the task of construction. Those who are humble will be able to work for the construction of the new world. To consider oneself to be an instrument and to remain humble is the seed of good wishes and pure feelings. Instead of expecting any limited respect, be humble. Stubbornness indicates bad manners whereas humility indicates good manners. To be humble in your interactions with everyone indicates that you are good-mannered and truthful. You will become a star of success when you are not arrogant about your success and you don’t speak about it. Do not sing your own praise, but to the extent that you are successful, be humble, constructive and easy-natured. Others may sing your praise, but you only sing praise of the Father. Such humility easily enables you to carry out the task of construction. Unless you are humble, you cannot carry out the task of construction. Because people mis understand, they think that the souls who practise the lesson of remaining humble and who say “Ha ji” to everyone to be defeated. However, such souls are, in fact, victorious. Do not allow your intellect to change from having faith to having doubts because of what others say at that time or because of the atmosphere. Do not doubt whether you’ll be victorious or defeated. Instead of that doubt, be firm in your faith. Today, others may say that you are defeated, but tomorrow, those same people will praise you by showering you with flowers. To have sanskars of having the specialities of being humble and constructive are the signs of a master. As well as this, others who come into contact with such souls will find them to be loving and will give them blessings from their hearts. They will have good wishes for them in their heart. Whether others know you or not, whether they have a distant relationship with you or not, through your love, let everyone who sees you feel that you belong to them. To the extent that you become full by imbibing all virtues and experiencing the fruit of all virtues, you must also become humble. Reveal every virtue you have by remaining in your stage of humility. Only then will you be called a great soul who has the authority of righteousness. A server is one who is constructive whilst also remaining humble. Humility is the means of success in service. By remaining humble, you will constantly remain light in service. When you are not humble but want respect, that becomes a burden, and those who are burdened will always come to a halt; they cannot go fast. Therefore, whenever you feel that you have a burden, you must understand that you are not humble. Where there is humility, there will not be any bossiness, there will be spirituality. Just as the Father comes here with so much humility, so follow the Father in the same way. If there is the slightest bossiness in service, that service will not be successful. Brahma Baba lowered himself with such humility. He was such a server who served with so much humility that he was even ready to massage the children’s feet. He always felt that the children were ahead of him and could give better lectures that he could. He never put himself first. He always put the children first, he always let them go first and considered them to be senior. Because he did this, he didn’t put himself down but, in fact, became even more elevated. This is known as being a number one worthy server. To give respect to others and keep yourself humble is a sign of having mercy for others. This form of constantly giving becomes a form of receiving for all time. Renounce temporary, perishable respect and remain stable in your self-respect. Remain humble and continue to give respect to others. This form of giving becomes a form of receiving. To give respect to others means to put them ahead and infuse them with zeal and enthusiasm. When you give them the treasures of zeal, enthusiasm, happiness and co-operation all the time, you are made into a charitable soul for all time.

Blessing: May you be a powerful soul who transforms your waste thoughts into powerful thoughts and becomes an easy yogi.
Some children think that they don’t have such a visible part, that they are unable to have yoga or become bodiless; these are waste thoughts. Transform these thoughts and have the powerful thought that remembrance is your original religion. “I am an easy yogi every cycle. If I do not become yogi, who else would?” Never think, “What can I do because my body is not working well? This old body is useless.” No. Have thoughts of “Wah, wah!” Sing songs of wonder of your final body and you will receive power.
Slogan: The power of good wishes can transform the wasteful feelings of others.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 23 DECEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 23 December 2018

To Read Murli 22 December 2018 :- Click Here
23-12-18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 12-03-84 मधुबन

रूहानियत की सहज विधि – सन्तुष्टता

आज बापदादा चारों ओर के दूर होते समीप रहने वाले सभी बच्चों की सन्तुष्टता वा रूहानियत और प्रसन्नता की मुस्कराहट देख रहे थे। सन्तुष्टता, रूहानियत की सहज विधि है, प्रसन्नता सहज सिद्धि है। जिसके पास सन्तुष्टता है वह सदा प्रसन्न स्वरूप अवश्य दिखाई देगा। सन्तुष्टता सर्व प्राप्ति स्वरूप है। सन्तुष्टता सदा हर विशेषता को धारण करने में सहज साधन है। सन्तुष्टता का खजाना सर्व खजानों को स्वत: ही अपनी तरफ आकर्षित करता है। सन्तुष्टता ज्ञान की सबजेक्ट का प्रत्यक्ष प्रमाण है। सन्तुष्टता बेफिकर बादशाह बनाती है। सन्तुष्टता सदा स्वमान की सीट पर सेट रहने का साधन है। सन्तुष्टता महादानी, विश्व कल्याणी, वरदानी सदा और सहज बनाती है। सन्तुष्टता हद के मेरे तेरे के चक्र से मुक्त कराए स्वदर्शन चक्रधारी बनाती है। सन्तुष्टता सदा निर्विकल्प, एकरस के विजयी आसन की अधिकारी बनाती है। सदा बापदादा के दिलतख्तनशीन, सहज स्मृति के तिलकधारी, विश्व परिवर्तन के सेवा के ताजधारी, इसी अधिकार के सम्पन्न स्वरूप में स्थित करती है। सन्तुष्टता ब्राह्मण जीवन का जीयदान है। ब्राह्मण जीवन की उन्नति का सहज साधन है। स्व से सन्तुष्ट, परिवार से सन्तुष्ट और परिवार उनसे सन्तुष्ट। किसी भी परिस्थिति में रहते हुए, वायुमण्डल, वायब्रेशन की हलचल में भी सन्तुष्ट। ऐसे सन्तुष्टता स्वरूप, श्रेष्ठ आत्मा विजयी रत्न के सर्टीफिकेट के अधिकारी है। तीन सर्टीफिकेट लेने पड़ें:-

(1) स्व की स्व से सन्तुष्टता (2) बाप द्वारा सदा सन्तुष्टता (3) ब्राह्मण परिवार द्वारा सन्तुष्टता।

इससे अपने वर्तमान और भविष्य को श्रेष्ठ बना सकते हो। अभी भी सर्टीफिकेट लेने का समय है। ले सकते हैं लेकिन ज्यादा समय नहीं है। अभी लेट हैं लेकिन टूलेट नहीं हैं। अभी भी सन्तुष्टता की विशेषता से आगे बढ़ सकते हो। अभी लास्ट सो फास्ट सो फर्स्ट की मार्जिन है। फिर लास्ट सो लास्ट हो जायेंगे। तो आज बापदादा इसी सर्टीफिकेट को चेक कर रहे थे। स्वयं भी स्वयं को चेक कर सकते हो। प्रसन्नचित हैं या प्रश्नचित हैं? डबल विदेशी प्रसन्नचित वा सन्तुष्ट हैं? प्रश्न खत्म हुए तो प्रसन्न हो ही गये। सन्तुष्टता का समय ही संगमयुग है। सन्तुष्टता का ज्ञान अभी है। वहाँ इस सन्तुष्ट, असन्तुष्ट के ज्ञान से परे होंगे। अभी संगमयुग का ही यह खजाना है। सभी सन्तुष्ट आत्मायें सर्व को सन्तुष्टता का खजाना देने वाली हो। दाता के बच्चे मास्टर दाता हो। इतना जमा किया है ना! स्टाक फुल कर दिया है या थोड़ा कम रह गया है? अगर स्टाक कम है तो विश्व कल्याणकारी नहीं बन सकते। सिर्फ कल्याणी बन जायेंगे। बनना तो बाप समान है ना। अच्छा!

सभी देश विदेश के सर्व खजानों से सम्पन्न मास्टर सर्वशक्तिवान होकर जा रहे हो ना! आना है तो जाना भी है। बाप भी आते हैं तो जाते भी हैं ना। बच्चे भी आते हैं और सम्पन्न बनकर जाते हैं। बाप समान बनाने के लिए जाते हैं। अपने ब्राह्मण परिवार की वृद्धि करने के लिए जाते हैं। प्यासी आत्माओं की प्यास बुझाने जाते हैं, इसीलिए जा रहे हो ना! अपनी दिल से वा बन्धन से नहीं जा रहे हो। लेकिन बाप के डायरेक्शन से सेवा प्रति थोड़े समय के लिए जा रहे हो! ऐसे समझ जा रहे हो ना? ऐसे नहीं कि हम तो हैं ही अमेरिका के, आस्ट्रेलिया के…. नहीं। थोड़े समय के लिए बापदादा ने सेवा के प्रति निमित्त बनाकर भेजा है। बापदादा भेज रहे हैं, अपने मन से नहीं जाते। मेरा घर है, मेरा देश है। नहीं! बाप सेवा स्थान पर भेज रहे हैं। सभी सदा न्यारे और बाप के प्यारे! कोई बन्धन नहीं। सेवा का भी बन्धन नहीं। बाप ने भेजा है बाप जाने। निमित्त बने हैं, जब तक और जहाँ निमित्त बनावे तब तक के लिए निमित्त हैं। ऐसे डबल लाइट हो ना! पाण्डव भी न्यारे और प्यारे हैं ना। बन्धन वाले तो कोई नहीं हैं। न्यारा बनना ही प्यारा बनना है। अच्छा-

सदा सन्तुष्टता की रूहानियत में रहने वाले, प्रसन्नचित रहने वाले सदा हर संकल्प, बोल, कर्म द्वारा सर्व को सन्तुष्टता का बल देने वाले, दिलशिकस्त आत्माओं को खजानों से शक्तिशाली बनाने वाले, सदा विश्व कल्याणकारी बेहद के बेफिकर बादशाहों को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

अव्यक्त बापदादा से दादी जी तथा दादी जानकी जी की मुलाकात

होलीहंसों की रूप-बसन्त की जोड़ी अच्छी है। यह (जानकी दादी) शान्ति से रूप बन सेवा ज्यादा पसन्द करती है और इनको (दादी जी को) तो बोलना ही पड़ता है। यह जब भी चाहे एकान्त में चली जाती है। इसे रूप की सेवा पसन्द है, वैसे तो आलराउन्ड हैं सभी लेकिन फिर भी रूप-बसन्त की जोड़ी है। वैसे दोनों ही संस्कारों की आवश्यकता है – जहाँ वाणी काम नहीं करेगी तो रूप काम करेगा और जहाँ रूप काम नहीं कर सकता वहाँ बसन्त काम करेगा। तो जोड़ी अच्छी है। जो जोड़ी बनती है, वह सब अच्छी है। वह भी जोड़ी अच्छी थी – यह भी अच्छी है। (दीदी के लिए) ड्रामा में वह गुप्त नदी हो गई। उनसे डबल विदेशियों का भी बहुत प्यार है। कोई बात नहीं। दीदी का दूसरा रूप देख लिया। सब देखकर कितने खुश होते हैं। सभी महारथी साथ हैं। बृजइन्द्रा, निर्मलशान्ता सब दूर होते भी साथी हैं! शक्तियों का अच्छा सहयोग है। सभी एक दो को आगे रखने के कारण आगे बढ़ रहे हैं। और निमित्त शक्तियों को आगे रखने के कारण सब आगे हैं। सेवा के बढ़ने का कारण ही यह है, एक दो को आगे बढ़ाना। आपस में प्यार है, युनिटी है। सदा दूसरे की विशेषता वर्णन करना – यही सेवा में वृद्धि करना है। इसी विधि से सदा वृद्धि हुई है और होती रहेगी। सदैव विशेषता देखना और विशेषता देखने का औरों को सिखाना, यही संगठन की माला की डोर है। मोती भी तो धागे में पिरोते हैं ना। संगठन का धागा है ही यह। विशेषता के सिवाए और कोई वर्णन नहीं क्योंकि मधुबन महान भूमि है। महा भाग्य भी है तो महा पाप भी है, मधुबन से जा करके अगर ऐसा कोई व्यर्थ बोलता है तो उसका बहुत पाप बन जाता है इसलिए सदैव विशेषता देखने का चश्मा पड़ा हुआ हो। व्यर्थ देख नहीं सकते। जैसे लाल चश्मे से सिवाए लाल के और कुछ देखते हैं क्या! तो सदैव यही चश्मा पड़ा हुआ हो – विशेषता देखने का। कभी कोई बात देखो भी तो उसका वर्णन कभी नहीं करो। वर्णन किया, भाग्य गया। कुछ भी कमी आदि है तो उसका जिम्मेवार बाप है, निमित्त किसने बनाया! बाप ने। तो निमित्त बने हुए की कमी वर्णन करना माना बाप की कमी वर्णन करना, इसलिए इन्हों के लिए कभी भी बिना शुभ भावना के और कोई वर्णन नहीं कर सकते।

बापदादा तो आप रत्नों को अपने से भी श्रेष्ठ देखते हैं। बाप का श्रृंगार यह हैं ना। तो बाप को श्रृंगारने वाले बच्चे तो श्रेष्ठ हुए ना। बापदादा तो बच्चों की महिमा कर खुश होते रहते हैं। वाह मेरा फलाना रत्न, वाह मेरा फलाना रत्न। यही महिमा करते रहते हैं। बाप कभी किसकी कमजोरी को नहीं देखते। ईशारा भी देते तो भी विशेषता पूर्वक रिगार्ड के साथ इशारा देते हैं। नहीं तो बाप को अथॉरिटी है ना, लेकिन सदैव रिगार्ड देकर फिर ईशारा देते हैं। यही बाप की विशेषता सदा बच्चों में भी इमर्ज रहे। फालो फादर करना है ना।

बापदादा के आगे सभी मुख्य बहनें (दादियां) बैठी हैं:-

जीवनमुक्त जनक आपका गायन है ना। जीवनमुक्त और विदेही दो टाइटिल हैं। (दादी के लिए) यह तो है ही मणि। सन्तुष्ट मणी, मस्तक मणी, सफलता की मणी, कितनी मणियां हैं। सब मणियां ही मणियां हैं। मणियों को कितना भी छिपाके रखो लेकिन मणी की चमक कभी छिप नहीं सकती। धूल में भी चमकेगी, लाइट का काम करेगी, इसलिए नाम भी वही है, काम भी वही है। इनका (दादी जानकी का) भी गुण वही है, देह मुक्त, जीवन मुक्त। सदा जीवन की खुशी के अनुभव की गहराई में रहती हैं। इसको ही कहते हैं जीवन मुक्त। अच्छा।

अव्यक्त महावाक्य – निर्मान बन विश्व नव-निर्माण करो

सेवा में सहज और सदा सफलता प्राप्त करने का मूल आधार है – निर्मानचित बनना। निर्मान बनना ही स्वमान है और सर्व द्वारा मान प्राप्त करने का सहज साधन है। निर्मान बनना झुकना नहीं है लेकिन सर्व को अपनी विशेषता और प्यार में झुकाना है। महानता की निशानी है निर्मानता। जितना निर्मान उतना सबके दिल में महान् स्वत: ही बनेंगे। निर्मानता निरहंकारी सहज बनाती है। निर्मानता का बीज महानता का फल स्वत: ही प्राप्त कराता है। निर्मानता सबके दिल की दुआयें प्राप्त करने का सहज साधन है। निरहंकारी बनने की विशेष निशानी है-निर्मानता। वृत्ति, दृष्टि, वाणी, सम्बन्ध-सम्पर्क सबमें निर्मानता का गुण धारण करो तो महान बन जायेंगे। जैसे वृक्ष का झुकना सेवा करता है, ऐसे निर्मान बनना अर्थात् झुकना ही सेवाधारी बनना है, इसलिए एक तरफ महानता हो तो दूसरे तरफ निर्मानता हो। जो निर्मान रहता है वह सर्व द्वारा मान पाता है। स्वयं निर्मान बनेंगे तो दूसरे मान देंगे। जो अभिमान में रहता है उसको कोई मान नहीं देते, उससे दूर भागेंगे। जो निर्मान होते हैं वह सबको सुख देते हैं। जहाँ भी जायेंगे, जो भी करेंगे वह सुखदायी होगा। उनके सम्बन्ध-सम्पर्क में जो भी आयेगा वह सुख की अनुभूति करेगा।

सेवाधारी की विशेषता है – एक तरफ अति निर्मान, वर्ल्ड सर्वेन्ट; दूसरे तरफ ज्ञान की अथॉरिटी। जितना ही निर्मान उतना ही बेपरवाह बादशाह। निर्मान और अथॉरिटी दोनों का बैलेंस। निर्मान-भाव, निमित्त-भाव, बेहद का भाव – यही सेवा की सफलता का विशेष आधार है। जितना ही स्वमान उतना ही फिर निर्मान। स्वमान का अभिमान नहीं। ऐसे नहीं – हम तो ऊंच बन गये, दूसरे छोटे हैं या उनके प्रति घृणा भाव हो, यह नहीं होना चाहिए। कैसी भी आत्मायें हों लेकिन रहम की दृष्टि से देखें, अभिमान की दृष्टि से नहीं। न अभिमान, न अपमान। अभी ब्राह्मण-जीवन की यह चाल नहीं है। यदि अभिमान नहीं होगा तो अपमान, अपमान नहीं लगेगा। वह सदा निर्मान और निर्माण के कार्य में बिज़ी रहेगा। जो निर्मान होता है वही नव-निर्माण कर सकता है। शुभ-भावना वा शुभ-कामना का बीज ही है निमित्त-भाव और निर्मान-भाव। हद का मान नहीं, लेकिन निर्मान। असभ्यता की निशानी है जिद और सभ्यता की निशानी है निर्मान। निर्मान होकर सभ्यतापूर्वक व्यवहार करना ही सभ्यता वा सत्यता है। सफलता का सितारा तब बनेंगे जब स्व की सफलता का अभिमान न हो, वर्णन भी न करे। अपने गीत नहीं गाये, लेकिन जितनी सफलता उतना नम्रचित, निर्माण, निर्मल स्वभाव। दूसरे उसके गीत गायें लेकिन वह स्वयं सदा बाप के गुण गाये। ऐसी निर्माणता, निर्माण का कार्य सहज करती है। जब तक निर्मान नहीं बने तब तक निर्माण नहीं कर सकते। नम्रचित, निर्मान वा हाँ जी का पाठ पढ़ने वाली आत्मा के प्रति कभी मिसअन्डरस्टैन्डिंग से दूसरों को हार का रूप दिखाई देता है लेकिन वास्तविक उसकी विजय है। सिर्फ उस समय दूसरों के कहने वा वायुमण्डल में स्वयं निश्चयबुद्धि से बदल शक्य का रूप न बने। पता नहीं हार है या जीत है। यह शक्य न रख अपने निश्चय में पक्का रहे। तो जिसको आज दूसरे लोग हार कहते हैं, कल वाह-वाह के पुष्प चढ़ायेंगे। संस्कारों में निर्मान और निर्माण दोनों विशेषतायें मालिक-पन की निशानी हैं। साथ-साथ सर्व आत्माओं के सम्पर्क में आना, स्नेही बनना, सर्व के दिलों के स्नेह की आशीर्वाद अर्थात् शुभ भावना सबके अन्दर से उस आत्मा के प्रति निकले। चाहे जाने, चाहे न जाने दूर का सम्बन्ध वा सम्पर्क हो लेकिन जो भी देखे वह स्नेह के कारण ऐसे ही अनुभव करे कि यह हमारा है। जितना ही गुणों की धारणा से सम्पन्न, गुणों रूपी फल स्वरूप बनो उतना ही निर्मान बनो। निर्मान स्थिति द्वारा हर गुण को प्रत्यक्ष करो तब कहेंगे धर्म सत्ता वाली महान आत्मा। सेवाधारी अर्थात् निर्माण करने वाले और निर्मान रहने वाले। निर्माणता ही सेवा की सफलता का साधन है। निर्माण बनने से सदा सेवा में हल्के रहेंगे। निर्मान नहीं, मान की इच्छा है तो बोझ हो जायेगा। बोझ वाला सदा रूकेगा। तीव्र नहीं जा सकता, इसलिए अगर कोई भी बोझ अनुभव होता है तो समझो निर्मान नहीं हैं। जहाँ निर्माणता है वहां रोब नहीं होगा, रूहानियत होगी। जैसे बाप कितना नम्रचित बनकर आते हैं, ऐसे फालो फादर। अगर जरा भी सेवा में रोब आता है तो वह सेवा समाप्त हो जाती है। ब्रह्मा बाप ने अपने को कितना नीचे किया – इतना निर्मान होकर सेवाधारी बनें जो बच्चों के पांव दबाने के लिए भी तैयार। बच्चे मेरे से आगे हैं, बच्चे मेरे से भी अच्छा भाषण कर सकते हैं। ‘पहले मैं’ कभी नहीं कहा। आगे बच्चे, पहले बच्चे, बड़े बच्चे – कहा तो स्वयं को नीचे करना नीचे होना नहीं है, ऊंचा जाना है। तो इसको कहा जाता है सच्चे नम्बरवन योग्य सेवाधारी। दूसरे को मान देकरके स्वयं निर्मान बनना यही परोपकार है। यह देना ही सदा के लिए लेना है। अल्पकाल के विनाशी मान का त्याग कर स्वमान में स्थित हो, निर्मान बन, सम्मान देते चलो। यह देना ही लेना बन जाता है। सम्मान देना अर्थात् उस आत्मा को उमंग-उल्लास में लाकर आगे करना है। यह सदाकाल का उमंग-उत्साह अर्थात् खुशी का वा स्वयं के सहयोग का खजाना, आत्मा को सदा के लिए पुण्यात्मा बना देता है।

वरदान:- व्यर्थ संकल्पों को समर्थ में परिवर्तित कर सहजयोगी बनने वाली समर्थ आत्मा भव 
कई बच्चे सोचते हैं कि मेरा पार्ट तो इतना दिखाई नहीं देता, योग तो लगता नहीं, अशरीरी होते नहीं -यह हैं व्यर्थ संकल्प। इन संकल्पों को परिवर्तित कर समर्थ संकल्प करो कि याद तो मेरा स्वधर्म है। मैं ही कल्प-कल्प का सहजयोगी हूँ। मैं योगी नहीं बनूंगा तो कौन बनेगा। कभी ऐसे नहीं सोचो कि क्या करूं मेरा शरीर तो चल नहीं सकता, यह पुराना शरीर तो बेकार है। नहीं। वाह-वाह के संकल्प करो, कमाल गाओ इस अन्तिम शरीर की, तो समर्थी आ जायेगी।
स्लोगन:- शुभ भावनाओं की शक्ति दूसरों की व्यर्थ भावनाओं को भी परिवर्तन कर सकती है।
Font Resize