23 august 2017

TODAY MURLI 23 August 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 23 August 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 22 August 2017 :- Click Here

23/08/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, there is very little time left. Therefore, do spiritual business. The best business is to remember the Father and your inheritance. Everything else is false business.
Question: What concern should you children have?
Answer: How to reform souls who have been spoilt, to liberate everyone from sorrow and to show them the path to happiness for 21 births and to give everyone the Father’s true introduction. You children should be concerned about all of this.
Song: No one is unique like the Innocent Lord.

Om shanti. The Innocent Lord explains the meaning of ‘Om shanti’ to you children. He Himself says “Om shanti” and you children also say “Om shanti”. This is giving your own introduction, which is: I, the soul, am an embodiment of peace, a resident of the land of peace. Our Father is also the Resident of that place. On the path of devotion too, they say, “Baba, Baba!” Although people sing this, they follow the dictates of Ravan. The dictates of Ravan spoil human beings. The Father comes and reforms that which has been spoilt. There is one Ravan and one Rama. The five vices all together are Ravan. Ravan establishes his own kingdom, that of our sitting in the cottage of sorrow. That one spoils everyone and this One reforms everyone. Ravan cannot be considered to be a human being. However, he is portrayed as representing the five vices of man and the five vices of woman. In Ravan’s kingdom, both have vices. You know that you also had five vices in you. We are now becoming viceless by following shrimat. We are reforming that which has been spoilt. Just as the Father reforms everything of everyone that has been spoilt, so children too should be just as eager to reform that which has been spoilt. All human beings continue to spoil one another. Only the one Father reforms everything that has been spoilt. Just as you have been reformed, so you should also have the same concern to help unhappy souls. Only the worthy children can fulfil the eagerness that the Father has. The intellects of you children should be eager to reform that which has been spoilt. You should explain to your friends and relatives. Also show them the path. Make unhappy human beings happy for 21 births, because after all they are your brothers and sisters. They are very unhappy and peaceless. We are claiming our inheritance from the Father and so you should think about how to go and explain to others and give lectures. Go to every home and to the temples. The Father gives you directions: You can do a lot of service in the temples. There are many devotees. Many people go to a Shiva temple out of blind faith. They go with one or another desire within themselves. They don’t understand that Shiva is their Father. He is praised so much and so, surely, He must have done something before He went back. Why do they go to a Shiva temple? Why do they go on pilgrimages to Amarnath? Brahmin priests and sannyasis take many pilgrims there. That is the business of the path of devotion; they won’t be reformed through that. Only the Father, the Innocent Lord, comes and reforms everything that has been spoilt. He is the Creator, the Master of the World, but He doesn’t become that Himself. He makes you children the masters. However, He is the highest and you are receiving the inheritance from Him. It should enter your hearts about how you can go and show your brothers and sisters this path. You feel mercy when you see someone unhappy and diseased. The Father says: I will now make you so happy and you will not be diseased for half the cycle. You children should also show others the way to the land of happiness. Those who are concerned about doing service will not be able to stay in one place; they would understand that they should go and show someone the path to the land of happiness. Baba challenges you a great deal. If the imperishable jewels of knowledge have been imbibed fully, you can benefit many. There is no need for money in establishing this kingdom. Those people continue to fight and quarrel among themselves by following Ravan’s dictates. We are snatching our kingdom back from Ravan. The kingdom of Rama (God) can only be received from Rama (God). The kingdom of Rama begins in the golden age. How can the kingdom of Rama exist here in the iron age? This is Ravan’s kingdom and everyone is unhappy. You can explain this to everyone. First of all, explain to those who are poor and to businessmen. Important people say that they are too busy or that they don’t have time. They believe that they are making Bharat into heaven and they continue to make plans. However, you know that no one except Shiv Baba can create heaven. Very little time now remains. You mustn’t become slack in establishing the kingdom of Rama. Day and night, you should be concerned about how to liberate someone from sorrow. It should enter the hearts of you children how to show the path to your brothers and sisters. Everyone now follows Ravan’s dictates. The Father is the Father and He comes and gives you children your inheritance. People go to court and say: I shall tell the truth considering God to be present everywhere. However, if He is omnipresent, then to whom do they pray? They don’t know anything. The Father repeatedly explains to you: Awaken your friends and relatives! You children have to become very sweet. Let there not be the slightest trace of anger. However, not all children are able to become like that. Maya catches hold of many children by their nose. No matter how much you explain, they just don’t listen. The Father also understands that it may take time before everyone becomes engaged in the Father’s service very well. One also has to have the interest to go to Baba and say: Baba, send me on service. I will go and benefit others. However, they don’t say anything. The children’s business is to relate the true Gita. There are just the two words: Alpha and beta. Baba has explained this method to you very well. The first thing is: What is your relationship with the Supreme Father, the Supreme Soul? The name, ‘Prajapita Brahma Kumaris,’ is written down below. Baba shows you a very new method and tells you very easy things. Baba is eager for such boards to be put up. Baba gives you directions. The Father is called the Merciful and Blissful One. Therefore, you children also have to become merciful like the Father. There are very big treasures in these pictures. They have the art in them of showing you how to become the masters of heaven. The Father continues to show you many methods. He invented them in the previous cycle and has invented them now too. It would touch people that this is something very good. We will definitely receive our inheritance from the Father. Also write: You have a right to the inheritance of heaven. Come and understand this. This is a very easy thing. Simply make such boards and put them up in prominent places. Put up boards in 10 to 20 places. You can also advertise this. These words will touch the children who have become separated from us. They would say: Let me at least go and find out what they are explaining. It should also be written: By understanding this riddle you can attain liberation and liberation-in-life in a second. The Father says: If you want to create your life, do service ! Come to the Ocean to be refreshed and then do service. You have been stumbling around for half the cycle on the path of devotion. Here, you have to know the Father in a second and claim your inheritance. It is now everyone’s stage of retirement; death is just ahead. This is the best business of all. All the other business that people do is false. Simply do the one business of remembering the Father and the inheritance. Go to colleges and explain to the principals so that those who study there can also understand. You are claiming your inheritance so easily! Remember the Father as much as possible. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become very, very sweet. Remove even the slightest trace of anger. Become merciful like the Father and remain engaged in service.
  2. Death is just ahead. It is now your stage of retirement. Therefore, remember the Father and the inheritance. Use everything of yours in a worthwhile way to do the service of making Bharat into the kingdom of Rama.
Blessing: May you be a master creator who celebrates perfection by keeping your unlimited rights in your awareness.
At the confluence age you children receive the inheritance, your source of income on the basis of your study and also blessings. Take every step while keeping all three forms of this right emerged in your awareness. Now, the time, matter and Maya are waiting to bid you farewell. You mastercreator children simply have to celebrate perfection and they will bid you farewell. Look in the mirror of knowledge to see what you would become if destruction were to take place at this moment.
Slogan: Keep a balance at every moment and in every action and you will automatically receive blessings from everyone.

*** Om Shanti ***

Invaluable versions of Mateshwari – 1956

1. The meaning of Godly knowledge is to die alive .

This imperishable knowledge is said to be Godly knowledge. The purpose of this knowledge is to die alive and this is why only a handful out of multimillions has the courage to take this knowledge. We know that this knowledge enables us to make our lives: whatever we hear, we become that in a practical way. No sage, saint or great soul can give us this knowledge. Those people would not say: Manmanabhav. God alone can give this direction: “Manmanabhav” means have yoga with Me. If you have yoga with Me, I will absolve your sins and give you the sovereignty of Paradise. You will go there and rule there and this is why this knowledge is said to be the king of all kings. To receive this knowledge is an expensive deal. To receive knowledge means to die alive in one go. To take the knowledge of the scriptures is a very cheap deal. There, you have to die repeatedly because they do not give God’s knowledge and this is why Baba says: Whatever you need to do, do that now. Then, this business will not remain.

2. God is the Truth, the Living Being and the Emb odiment of Bliss.

The Supreme Father, the Supreme Soul is also called the Truth, the Living Being and the Embodiment of Bliss. Why is the Supreme Soul said to be the Truth? Because He is imperishable and immortal. He can never be false. He is immortal and eternal. God is also said to be the Living Being. “Living” means God also has a mind and intellect. He is called knowledge-full and peaceful. He is teaching us knowledge and yoga. This is why God is also called the Living Being. Although He is beyond birth and does not take a physical birth as we souls do, God too has to take the body of Brahma on loan in order to give us this knowledge and peace. It is because He is the Living Being that he is teaching us this knowledge and yoga through the mouth. God is also said to be the Embodiment of Bliss and the Embodiment of Happiness. God is filled with all of these virtues and this is why God is said to be beyond happiness and sorrow. We would not say that God is the Bestower of sorrow; no. He is constantly a treasure-store of Happiness and bliss. Since His virtue is that of giving happiness and bliss, how can He cause sorrow for us souls?

3. The Supreme Soul is Karankaravanhar.

Many people believe that the eternal world drama that is being played out is all being done by God. This is why they say that nothing is in the hands of human beings; that the Lord is Karankaravanhar; that God does everything, that both the parts of happiness and sorrow have been created by God. What kind of intellects would you call people who have such intellects? First of all, it is essential for them to understand that which God creates at this time is an eternal, predestined world play and it is continuing. We refer to this as the predestined play that continues automatically. It is also said of God that God does everything. With which authority do we say that God is creating all of this? God is said to be Karankaravanhar. Which authority has been given this name? These things have to be understood. First of all, you have to understand that it is the eternal law of this world and that it is predestined. Just as God is eternal, so Maya too is eternal and that this cycle is also imperishable and eternally created from the beginning to the end. It is understood that a seed has the knowledge of the tree, and it is understood that the tree has the seed within it, the two are combined and imperishable. What is the task of the seed? It has to be sown and the tree will then emerge from it. If the seed is not sown, the tree cannot grow. God is also the Seed of this whole world and God’s part is to sow the seed. God Himself says: I am God when I sow the seed, otherwise the seed and the tree are imperishable. If the seed is not sown, how can the tree emerge? My name is God when I carry out My supreme task. My world is that which I Myself sow the seed of when I become an actor. I bring about the beginning of the world and also its end. I become an actor (one who acts by Himself) and sow the seed. I bring about the beginning at the time of sowing the seed and then there is also the seed of the end. The whole tree then takes the strength of the seed. “Seed” means to create and then to bring about its end. To bring about the end of the old world and to bring about the beginning of the new world is referred to as God doing everything. Achcha.

 

Read Bk Murli 21 August 2017 :- Click Here

Brahma kumaris murli 23 August 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 23 August 2017

August 2017 Bk Murli :- Click Here

To Read Murli 23 August 2017 :- Click Here

BK murli today ~ 23/08/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली

 

23/08/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – समय बहुत थोड़ा है इसलिए रूहानी धन्धा करो, सबसे अच्छा धंधा है – बाप और वर्से को याद करना, बाकी सब खोटे धन्धे हैं”
प्रश्नः- तुम बच्चों के अन्दर कौनसी उत्कण्ठा होनी चाहिए?
उत्तर:- कैसे हम बिगड़ी हुई आत्माओं को सुधारें, सभी को दु:ख से छुड़ाकर 21 जन्मों के लिए सुख का रास्ता बतावें। सबको बाप का सच्चा-सच्चा परिचय दें – यह उत्कण्ठा तुम बच्चों में होनी चाहिए।
गीत:- भोलेनाथ से निराला…

ओम् शान्ति। भोलानाथ बच्चों को ओम् शान्ति का अर्थ भी समझाते हैं। खुद भी कहते हैं ओम् शान्ति तो बच्चे भी कहते हैं ओम् शान्ति। यह अपना परिचय देना होता है कि हम आत्मा शान्त स्वरूप, शान्तिधाम के रहने वाले हैं। हमारा बाप भी वहाँ रहने वाला है। भक्तिमार्ग में भी बाबा-बाबा कहते हैं। भल मनुष्य गाते हैं परन्तु हैं रावण मत पर। रावण मत मनुष्य को बिगाड़ती है। बाप आकर बिगड़ी को बनाते हैं। रावण भी एक है, राम भी एक है। 5 विकारों को मिलाकर कहते हैं रावण। रावण अपना राज्य स्थापन करते हैं, शोकवाटिका में बैठने का। वह बिगाड़ते हैं, वह बनाते हैं। रावण को मनुष्य नहीं कहा जाता है। परन्तु दिखाते हैं 5 विकार पुरूष क़े 5 विकार स्त्री के। रावण राज्य में दोनों में विकार हैं। तुम जानते हो 5 विकार हमारे में भी थे। अभी हम श्रीमत पर निर्विकारी बनते जाते हैं। बिगड़ी को सुधार रहे हैं। जैसे बाप सबकी बिगड़ी बनाते हैं, बच्चों में भी यही उत्कण्ठा रहनी चाहिए कि कैसे हम बिगड़ी को बनावें। सब मनुष्य मात्र एक दो की बिगाड़ते रहते हैं। बिगड़ी को सुधारने वाला एक ही बाप है। तो जैसे तुम सुधरे हो वैसे तात (लगन) लगी रहे कि कैसे जाकर दु:खी आत्माओं की सहायता करें। बाप की जो उत्कण्ठा है वह सपूत बच्चे ही पूरी कर सकते हैं। बच्चों की बुद्धि में उत्कण्ठा रहनी चाहिए कि कैसे किसकी बिगड़ी को बनायें। मित्र सम्बन्धियों को भी समझाना चाहिए। उनको भी रास्ता बतायें। दु:खी जीव आत्माओं को 21 जन्मों के लिए सुखी बनायें, फिर भी हमारे भाई बहन हैं, बहुत दु:खी अशान्त हैं। हम तो बाप से वर्सा ले रहे हैं तो ख्याल आना चाहिए कि कैसे जाकर किसको समझायें, भाषण करें। घर-घर जायें, मन्दिरों में जायें। बाप मत देते हैं, मन्दिरों में बहुत सर्विस कर सकते हो। भक्त बहुत हैं, अन्धश्रद्धा से शिव के मन्दिर में बहुत जाते हैं। अन्दर में कोई न कोई आश रखकर जाते हैं। यह नहीं समझते कि शिव हमारा बाप है। उनकी इतनी जो महिमा है तो जरूर कभी कुछ करके गये होंगे। शिव के मन्दिर में क्यों जाते हैं! अमरनाथ पर यात्रा करने क्यों जाते हैं! ढेर यात्रियों को ब्राह्मण लोग वा सन्यासी ले जाते हैं। यह है भक्तिमार्ग का धन्धा, इससे तो सुधरेंगे नहीं। भोलानाथ बाप ही आकर बिगड़ी को बनाते हैं। वह विश्व का रचयिता अथवा मालिक है लेकिन खुद नहीं बनता है। मालिक तुम बच्चों को बनाते हैं। परन्तु वह ऊंच है, उनसे वर्सा मिल रहा है। तुमको दिल में आना चाहिए कि कैसे हम भाई बहनों को रास्ता बतायें। किसको दु:खी, रोगी देखा जाता है तो रहम आता है ना। बाप कहते हैं अभी हम तुमको ऐसा सुखी बनाते हैं जो आधाकल्प के लिए रोगी नहीं होंगे। तो तुम बच्चों को औरों को भी सुखधाम का रास्ता बताना है। सर्विस की उत्कण्ठा वाले एक जगह रह नहीं सकेंगे। समझेंगे हम भी जाकर किसको सुखधाम का रास्ता बतायें। बाबा तो बहुत ललकार करते हैं। अविनाशी ज्ञान रत्नों की पूरी धारणा होगी तो बहुतों का कल्याण कर सकते हैं। इस राजाई की स्थापना में पैसे की दरकार नहीं रहती है। वो लोग तो आपस में ही लड़ते झगड़ते रहते हैं, रावण की मत पर। हम रावण से राज्य छीनते हैं। रामराज्य राम द्वारा ही मिलता है। सतयुग में रामराज्य शुरू होता है, यहाँ कलियुग में रामराज्य कहाँ से आया। यह तो रावण राज्य है, सब दु:खी हैं। यह बात तुम सभी को समझा सकते हो। पहले उन्हें समझाना है जो गरीब हैं, व्यापारी हैं। बाकी बड़े आदमी तो कहेंगे कि हमको फुर्सत नहीं है, हम बिजी हैं। समझते हैं हम भारत को स्वर्ग बना रहे हैं, प्लैन करते रहते हैं। लेकिन तुम जानते हो शिवबाबा बिगर कोई स्वर्ग बना नहीं सकते। अभी टाइम बाकी थोड़ा है। रामराज्य स्थापन करने में ढील नहीं करनी है। रात दिन फुरना रहना चाहिए – कैसे किसको दु:ख से छुड़ायें। बच्चों को यह दिल में आना चाहिए – कैसे भाई बहिनों को रास्ता बतायें। अभी सब रावण की मत पर हैं। बाप तो बाप है जो बच्चों को आकर वर्सा देते हैं। मनुष्य कोर्ट में जाकर कहते हैं ईश्वर को हाज़िर-नाज़िर जान सच कहता हूँ। परन्तु अगर वह सर्वव्यापी है तो फिर प्रार्थना किसकी करते हैं! उनको कुछ भी पता नहीं है। बाप बार-बार समझाते हैं, मित्र सम्बन्धियों को जगाओ। तुम बच्चों को बड़ा मीठा बनना है। क्रोध का अंश भी न हो, परन्तु सब बच्चे तो ऐसे बन नहीं सकते। बहुत बच्चे हैं जिनको माया एकदम नाक से पकड़ लेती है। कितना भी समझाओ तो भी सुनते ही नहीं। बाप भी समझते हैं – शायद टाइम लगेगा। जब सब अच्छी रीति बाप की सर्विस में लग जायें। शौक भी तो चाहिए ना जो आकर कहें कि बाबा हमको सर्विस पर भेजो, हम जाकर औरों का कल्याण करें। परन्तु बोलते नहीं। बच्चों का धन्धा ही है सच्ची गीता सुनाना। अक्षर ही दो हैं – अल्फ और बे। बाबा ने अच्छी तरह युक्ति समझाई है। पहली बात ही यह है – परमपिता परमात्मा से आपका क्या सम्बन्ध है! नीचे में प्रजापिता ब्रह्माकुमारी नाम लिखा हुआ है। बाबा बहुत नया तरीका, बहुत सहज बताते हैं। बाबा को उत्कण्ठा रहती है – ऐसे ऐसे बोर्ड लगाना चाहिए। बाबा डायरेक्शन देते हैं। बाप को कहते ही हैं रहमदिल, ब्लिसफुल तो बच्चों को भी बाप समान रहमदिल बनना है। इन चित्रों में तो बहुत बड़ा खजाना है। स्वर्ग के मालिक बनने की इनमें युक्ति है। बाप तो बहुत युक्तियां निकालते रहते हैं। कल्प पहले भी निकाली थी और अब भी निकाली हैं। मनुष्यों को टच होगा कि यह बात तो बड़ी अच्छी है। बाप से जरूर वर्सा मिलेगा। यह भी लिख दो स्वर्ग के वर्से के तुम हकदार हो। आकर समझो, बहुत सहज बात है। सिर्फ बोर्ड बनाकर अच्छी-अच्छी जगह पर लगाना है। 10-20 स्थानों पर बोर्ड लगाओ, यह एडवरटाइजमेंट भी डाल सकते हो। हमारे जो बिछुड़े हुए बच्चे होंगे उन्हों को यह अक्षर लगेंगे। कहेंगे पता तो निकालें कि यह क्या समझाते हैं। यह भी लिखा हुआ हो कि इस पहेली को समझने से तुम मुक्ति-जीवनमुक्ति को पा सकते हो, एक सेकेण्ड में।

[wp_ad_camp_5]

 

बाप कहते हैं अगर अपनी जीवन बनानी है तो सर्विस करो। सागर पास आकर रिफ्रेश हो फिर सर्विस करनी है। भक्ति मार्ग में तो आधाकल्प धक्के खाये हैं। यहाँ तो एक सेकेण्ड में बाप को जान बाप से वर्सा पाना है। सबकी वानप्रस्थ अवस्था है। मौत सामने खड़ा है। सबसे अच्छा धन्धा है यह। बाकी जो भी मनुष्य धन्धे करते हैं वह हैं खोटे। एक धन्धा सिर्फ करना है – बाप और वर्से को याद करो। कॉलेजों में जाकर प्रिन्सीपाल को समझाओ तो पढ़ने वाले भी समझें। तुम कितना सहज वर्सा ले रहे हो। जितना हो सके बाप को याद करो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बहुत-बहुत मीठा बनना है। क्रोध का अंश भी निकाल देना है। बाप समान रहमदिल बन सर्विस पर तत्पर रहना है।

2) मौत सामने खड़ा है। वानप्रस्थ अवस्था है इसलिए बाप को और वर्से को याद करना है। भारत को रामराज्य बनाने की सेवा में अपना सब कुछ सफल करना है।

वरदान:- बेहद के अधिकार को स्मृति में रख सम्पूर्णता की बधाईयां मनाने वाले मास्टर रचयिता भव 
संगमयुग पर आप बच्चों को वर्सा भी प्राप्त है, पढ़ाई के आधार पर सोर्स आफ इनकम भी है और वरदान भी मिले हुए हैं। तीनों ही संबंध से इस अधिकार को स्मृति में इमर्ज रखकर हर कदम उठाओ। अभी समय, प्रकृति और माया विदाई के लिए इन्तज़ार कर रही है सिर्फ आप मास्टर रचयिता बच्चे, सम्पूर्णता की बधाईयां मनाओ तो वो विदाई ले लेगी। नॉलेज के आइने में देखो कि अगर इसी घड़ी विनाश हो जाए तो मैं क्या बनूंगा?
स्लोगन:- हर समय, हर कर्म में बैलेन्स रखो तो सर्व की ब्लैसिंग स्वत: प्राप्त होंगी।

मातेश्वरी जी के अनमोल महावाक्य – 1956

परमात्म ज्ञान का अर्थ है जीते जी मर जाना

इस अविनाशी ज्ञान को परमात्म ज्ञान कहते हैं, इस ज्ञान का मतलब है जीते जी मर जाना इसलिए कोटों में कोई विरला यह ज्ञान लेने की हिम्मत रखता है। यह तो हम जानते हैं कि यह ज्ञान प्रैक्टिकल जीवन बनाता है, हम जो सुनते हैं वो प्रैक्टिकल में बनते हैं, ऐसा ज्ञान कोई साधू संत महात्मा दे नहीं सकते। वो लोग ऐसे नहीं कहेंगे मनमनाभव, अब यह फरमान सिर्फ परमात्मा ही कर सकता है। मनमनाभव का अर्थ है मेरे साथ योग लगाओ। अगर मेरे साथ योग लगायेंगे तो मैं तुम्हें पापों से मुक्त कर वैकुण्ठ की बादशाही दूँगा। वहाँ तुम चलकर राज्य करेंगे इसलिए इस ज्ञान को राजाओं का राजा कहते हैं। अब यह ज्ञान लेना बहुत महंगा सौदा है, ज्ञान लेना अर्थात् एक ही धक से जीते जी मर जाना। शास्त्रों आदि का ज्ञान लेना तो बिल्कुल सस्ता सौदा है। उसमें तो घड़ी-घड़ी मरना होगा क्योंकि वो परमात्मा का ज्ञान नहीं देते इसलिए बाबा कहते हैं अभी जो करना है वो अब करो फिर यह व्यापार नहीं रहेगा।

2) परमात्मा सत् चित्त आनंद स्वरूप हैं…

परमपिता परमात्मा को सत् चित्त आनंद स्वरूप भी कहते हैं, अब परमात्मा सत् क्यों कहते हैं? क्योंकि वह अविनाशी इमार्टल है, वो कब असत् नहीं होता, अजर अमर है और परमात्मा को चैतन्य स्वरूप भी कहते हैं। चैतन्य का अर्थ है परमात्मा भी मन बुद्धि सहित है, उसको नॉलेजफुल पीसफुल कहते हैं। वो ज्ञान और योग सिखला रहे हैं इसलिए परमात्मा को चैतन्य भी कहते हैं, भल वो अजन्मा भी है वो हम आत्माओं मुआफिक जन्म नहीं लेता, परमात्मा को भी यह नॉलेज और शान्ति देने के लिये ब्रह्मा तन का लोन लेना पड़ता है। तो वो जब चैतन्य है तभी तो मुख द्वारा हमें ज्ञान योग सिखला रहे हैं और फिर परमात्मा को आनंद स्वरूप भी कहते हैं, सुख स्वरूप भी कहते हैं यह सब गुण परमात्मा में भरा हुआ है इसलिए परमात्मा को सुख दु:ख से न्यारा कहते हैं। हम ऐसे नहीं कहेंगे कि परमात्मा कोई दु:ख दाता है, नहीं। वो सदा सुख आनंद का भण्डार है, जब उसके गुण ही सुख आनंद देने वाले हैं तो फिर हम आत्माओं को वह दु:ख कैसे दे सकता है!

3) परमात्मा करनकरावनहार है….

बहुत मनुष्य ऐसे समझ बैठे हैं कि यह जो अनादि बना बनाया सृष्टि ड्रामा चल रहा है वो सारा परमात्मा चला रहा है इसलिए वो कहते हैं कि मनुष्य के कुछ नाहीं हाथ… करनकरावनहार स्वामी… सबकुछ परमात्मा ही करता है। सुख दु:ख दोनों भाग परमात्मा ने ही बनाया है। अब ऐसी बुद्धि वालों को कौनसी बुद्धि कहा जायेगा? पहले पहले उन्हों को यह समझना जरुर है कि यह अनादि बनी बनाई सृष्टि का खेल वो परमात्मा जो अब बनाता है, वही चलता है। जिसको हम कहते हैं यह बनी बनाई का खेल ऑटोमेटिक चलता ही रहता है तो फिर परमात्मा के लिये भी कहा जाता है कि यह सबकुछ परमात्मा ही करता है, अब वो फिर किस हैसियत को रख परमात्मा उत्पत्ति करते हैं! यह जो परमात्मा को करनकरावनहार कहते हैं, यह नाम फिर कौनसी हस्ती के ऊपर पड़ा है? अब इन बातों को समझना है। पहले तो यह समझना है कि यह जो सृष्टि का अनादि नियम है वो तो बना बनाया है, जैसे परमात्मा भी अनादि है, माया भी अनादि है और यह चक्र भी आदि से लेकर अन्त तक अनादि अविनाशी बना बनाया है। जैसे बीज में अण्डरस्टुड वृक्ष का ज्ञान है और वृक्ष में अण्डरस्टुड बीज है, दोनों कम्बाइंड हैं, दोनों अविनाशी हैं, बाकी बीज का क्या काम है, बीज बोना झाड़ निकलना। अगर बीज न बोया जाए तो वृक्ष उत्पन्न नहीं होता। तो परमात्मा भी स्वयं इस सारी सृष्टि का बीजरूप है और परमात्मा का पार्ट है बीज बोना। परमात्मा ही कहता है मैं परमात्मा हूँ ही तब जब बीज बोता हूँ, नहीं तो बीज और वृक्ष अनादि है, अगर बीज नहीं बोया जाए तो वृक्ष कैसे निकलेगा! मेरा नाम परमात्मा ही तब है जब मेरा परम कार्य है, मेरी सृष्टि वही है जो मैं खुद पार्टधारी बन बीज बोता हूँ। सृष्टि की आदि भी करता हूँ और अन्त भी करता हूँ, मैं करनधारी बन बीज बोता हूँ, आदि करता हूँ बीज बोने समय फिर अन्त का भी बीज़ आता है फिर सारा झाड़ बीज की ताकत पकड़ लेता है। बीज का मतलब है रचना करना फिर उनकी अन्त करना। पुरानी सृष्टि की अन्त करना और नई सृष्टि की आदि करना इसको ही कहते हैं परमात्मा सबकुछ करता है। अच्छा। ओम् शान्ति।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 20 August 2017 :- Click Here

 

Font Resize