22 november ki murli

TODAY MURLI 22 NOVEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 22 November 2020

22/11/20
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
21/01/87

Those who are self-sovereigns have a right to the kingdom of the world.

Today, the Father, the Bestower of Fortune, is looking at all His most elevated and fortunate children. It isn’t just this gathering that is in front of BapDada, but all the fortunate children from everywhere are even now in front of Him. No matter which corner they are in, whether in this land or abroad, the unlimited Father is seeing the unlimited children. In this corporeal world there is the limitation of space, but the world of the unlimited Father’s drishti is unlimited. The world of all Brahmin souls is merged in the Father’s drishti. So, in the world of drishti, all are personally in front of Baba. God, the Bestower of Fortune, is happy to see all the fortunate children. Just as children are pleased to see the Father, the Father is also pleased to see all the children. On seeing the children, the unlimited Father has spiritual intoxication and pride that each one of His children is in the list of special souls before the world. Even if someone is the last bead of the rosary of 16,000, nevertheless, by coming in front of the Father and by belonging to the Father, he is a special soul before the world. Therefore, even if you are unable to know any detail of knowledge, when you accept the one word “Baba” with your heart and you relate it to others with your heart, you become a special soul. You become a great soul before the world; you become a soul worthy of being remembered as a great soul in the world. Do you feel that you have easily received such elevated fortune? The word “Baba” is the key. Key to what? To all treasures and elevated fortune. Once you have received the key, you definitely receive fortune and all the treasures. So, have all you mothers and Pandavas claimed a right to the key? Do you also know how to use the key? Or, do you sometimes not know how to use it? The way to use the key is to know and accept with your heart. If you simply say it in words then, even though you have the key, it will not work. When you say it from your heart, all the treasures are then always present in front of you. They are infinite treasures. Because the treasures are infinite, no matter how many children there are, all of them have a right. The treasure is an open treasure, it is an overflowing treasure. It isn’t that the treasures have finished for those who have come at the end. However many have come until now, that is, however many belong to the Father and however many will belong to the Father in the future, there are manifold treasures, more than enough for all of them. This is why BapDada is giving every child the golden chance to take with an open heart (without hesitation) as many treasures as he wants. The Bestower does not lack anything. Everything depends on the courage and effort of those who are to take it. There isn’t such a father in the whole cycle who would have so many children each one of whom would be so fortunate. This is why you were told that spiritual BapDada has spiritual intoxication.

Everyone’s desire to come to Madhuban and to have a meeting has now been fulfilled. Compared to the pilgrimages of the path of devotion, here, in Madhuban, you at least have space to sit and to remain comfortable. In the temples, they simply have a glimpse whilst standing. Here, at least you are sitting comfortably. There, they are constantly told, “Run, run, move on, move on,” whereas you are sitting here comfortably and you thereby enjoy the pleasure of staying in remembrance comfortably. You have come here to celebrate in happiness at the confluence age, have you not? So, at every moment, whilst walking and moving around, whilst eating and drinking, have you accumulated the treasure of happiness? How much have you accumulated? Have you accumulated enough that you can eat from that comfortably for 21 births? Madhuban is the special place where you can accumulate all treasures because, here you also experience belonging to the one Father and none other in a physical way. There, you experience this with your intellect, whereas here, in your practical life, do you see anyone except the one Father and the Brahmin family? There is just the one loving concern, the same matters, the one family and a constant and stable stage; there isn’t anything else to interest you. To study and become powerful by studying: this is the only work you have to do in Madhuban. How many classes do you have? So, here, you have a special means to accumulate. This is why all of you have come here, running. BapDada is especially reminding all of you children: Constantly continue to move forward with your stage of a self-sovereign. To be a self-sovereign is a sign of becoming one with a right to the kingdom of the world.

Whilst having a heart-to-heart conversation with the Father, some children ask: What will I become in the future? Will I become a king or a subject? BapDada responds to the children: Check yourself for even one day and you will know whether you will become a king, a wealthy subject or a subject. First of all, from amrit vela, check your three main workers, your co-operative companions. Who are they? 1. The mind, that is, your power of thought. 2. The intellect, that is, your power to decide. 3. The past and present elevated sanskars. These three are your main workers. In the world nowadays, a king has a chief minister or a special adviser and the kingdom functions with his co-operation. In the golden age, there won’t be any advisers but there will be close relatives and companions. Consider them to be whatever you want, companions or advisers; but check: Do these three work under your control? Do you have self-sovereignty over these three or do you work under their control? Does your mind control you or do you control your mind? Are you able to have whatever type of thought you want, whenever you want? Are you able to focus your intellect wherever you want or does your intellect make you, the king, wander around? Do you control your sanskars or are you influenced by your sanskars? To have a kingdom means to have a right. Do you, the sovereign, have the power to give an order to carry out a task accurately in the right way at the time that you ask or is it that you ask them to do one thing and they do something else? The special means for being a constant yogi, a self-sovereign, is your use of your mind and intellect. The mantra you have received is, “Manmanabhav”. Yoga is said to be yoga of the intellect. So, if these main pillars of support are not under your control, or if they are sometimes under your control and at other times not, if they are under your control one moment and not the next, if even one of the three is under your control to a lesser extent, then you can check from that whether you will become a king or a subject. The sanskars of being a sovereign over a long period of time will enable you to have a right to a kingdom in the future over a long period of time. If you have control sometimes but are influenced at other times then you won’t be able to receive a full right to the fortune of a kingdom for half the cycle. After half the time, you can become a silver-aged king, but you won’t have a right to a kingdom all the time, that is, you won’t be able to come into a close relationship with the royal family that rules the kingdom. If you are repeatedly being influenced, then your sanskars are not those of controlling, but the sanskars of those who come into the kingdom of the ones who have a right to the kingdom. So, whose are they? They are those of the subjects. So, do you understand who will become kings and who will become subjects? Look at the image of your fortune in your own mirror. This knowledge is the mirror. So, all of you have this mirror, do you not? You can see your own face, can you not? Now, practise having a right over a long period of time. Do not think that you will become that at the end. If you become that at the end, you will then be able to rule for a short time in the last birth. However, also remember that if you don’t practise this over a long period of time from now, or if you haven’t developed this practice from the beginning, if from the beginning until now these special workers have been controlling you or have been making your stage fluctuate, that is, if they have been deceiving you, if they have been making you experience waves of sorrow, then you can be deceived at the end too. Deception means waves of sorrow will definitely be experienced. So, even at the end, there will be a wave of sorrow of repentance. This is why BapDada is reminding all of you children once again to become kings and make your special co-operative workers and companions who carry out the work in your kingdom to work under your control. Do you understand?

BapDada is seeing who have become self-sovereigns and to what extent. Achcha. So, what do all of you want to become? Do you want to become kings? So, have you become self-sovereigns now, or are you still saying: “I will become that, I will become that at the end”? Do not say, “I will become that in the future.” If you say it will happen in the future, the Father would also say: Achcha, we shall see about it when it comes to giving the fortune of the kingdom. You have been told that the sanskars of a long period of time are needed from now. In fact, there isn’t a lot of time left; little time remains. Nevertheless, if you haven’t practised this for long enough, don’t complain at the last moment: “I thought that I would become that at the end.” This is why it is said: Not some time, but now. Do not think: “It will happen at some point.” It has to happen now. You have to become this now. Rule yourself. Don’t start ruling your companions. All the companions of those who have sovereignty over themselves – whether lokik or alokik – even now, because of love, say, “Yes my lord, ha ji” and remain their companions. They remain loving companions and demonstrate this in practice by saying “Ha ji”. Just as subjects are co-operative and loving to the king, so too, all your physical senses, especially the powers, will also remain loving and co-operative with you and this will tangibly affect your service companions and lokik relatives and companions. While in the divine family, it will not do to be someone in control who issues orders to others. Simply keep your own physical organs under your control and, before you issue an order, all your companions will automatically co-operate in your task. If they themselves become co-operative, there is no need to give orders. They will offer their co-operation because you are a self-sovereign. A king means a bestower and a bestower does not need to say anything, that is, he does not need to ask. So, have you become such self-sovereigns? Achcha, this mela was also fixed in the drama. You say, “Wah drama!”, do you not? Other people will sometimes say “Oh! Drama!” and sometimes “Wah drama!”, whereas what do you say at all times? “Wah drama, Wah!” When you have attainment, then where there is attainment nothing is difficult. Similarly, when you have the attainment of meeting such an elevated family, then anything difficult does not feel difficult. Does it feel difficult? Do you have to wait for your food? When you eat, sing God’s praise and even if you wait in a queue, sing God’s praise. This is all you have to do, is it not? This is also a rehearsal that is taking place. This is nothing as yet. There will be even more expansion. Now instil the habit of being able to mould yourself, so that you are able to make yourself move according to the time. So, you have now also developed the habit of sleeping on the floor, have you not? It wasn’t that, because you didn’t have a bed you weren’t able to sleep, was it? You have developed the habit of staying in a tent, have you not? Did you like it? You weren’t cold, were you? Now, should we put up tents in the whole of Abu? Did you enjoy sleeping in the tents, or do you need a room? Do you remember when you were in Pakistan at the beginning, that the maharathis had to sleep on the floor? Those who were well-known maharathis were given three feet of land to sleep on the floor. When the Brahmin family grew, how did it all begin? It began with tents. Those who came at the beginning used to live in tents, and those who were living in tents have become saints (great souls). They used to live in tents even during Sakar Baba’s part. So, you will all experience that, will you not? So, is everyone happy in every way? Achcha, we shall then invite another 10,000 and make arrangements to give them tents. All of you are thinking about bathing facilities and these too will be arranged. Do you remember what everyone said when this hall was built? What will we do with so many bathrooms? This hall was made with this aim, and it has now become small. No matter how big you build it, it will become small because, at the end, you have to go into the unlimited. Achcha.

Children from everywhere have arrived. So this too is the decoration of this unlimited hall. Some are even sitting below. (Some are listening to the murli in the History Hall, the Meditation Hall etc.) For this expansion to take place is also a sign of good fortune. Expansion has taken place, but you now have to move along according to the system. Do not think that you have come to Madhuban, you have seen Baba, you have seen Madhuban, and so, you can now do everything as you want. Do not do this. Some children are such that, until they get a chance to come to Madhuban, are very strong. Then, once they have seen Madhuban, they become a little careless. So, do not become careless. To be a Brahmin means to have a Brahmin life, and a life is for all the time you are alive. You have created this life, have you not? Have you made this your life or have you become a Brahmin for a short time? Always keep the specialities of your Brahmin life with you, because it is through these specialities that your present is elevated and your future is also elevated. Achcha. What else is there? Toli. (Blessings.) The blessing is that you have become the children of the Bestower of Blessings. Those who are the children of the Bestower of Blessings automatically continue to receive blessings at every step from the Bestower of Blessings. The blessing is your sustenance. You are being sustained with the sustenance of blessings. Otherwise, just think: You received such elevated attainment and what effort did you make? Anything that you attain without having to labour for it is said to be a blessing. So, what effort did you make? Yet the attainment you have received is so elevated! You have claimed a right to attainment for birth after birth. You receive blessings from the Bestower of Blessings at every step and you will always continue to receive them. Through drishti, through words and through relationships, you constantly have blessings and more blessings. Achcha.

You are now making preparations to celebrate the Golden Jubilee. You are celebrating the Golden Jubilee, that is, the jubilee to remain constantly stable in a golden stage. Always remain real goldwith not the slightest alloy mixedin. This is called the Golden Jubilee. So, in order to be revealed to the world as those who are real gold with a golden stage, you are creating all these ways of doing service, because your golden stage will bring about the golden age, it will bring the beautiful world. Everyone now wants the world to change. So, you are the special souls who will bring about world transformation through self-transformation. Let souls, seeing all of you, have the faith and the pure hope that the beautiful golden world is truly now about to come! Seeing a sample, they have that faith, that it is something good. So, you are the samples of the golden world. You are those with a golden stage. When they see you samples, let them have this faith: Yes, now that the samples are ready, such a world is now definitely about to come. You will do such service in the Golden Jubilee, will you not? Become those who give hope to those who have no hope. Achcha.

To those who are self-sovereigns, to the souls who have developed the practice of having control over themselves over a long period of time, to all the special souls of the world, to all the elevated souls who are sustained with blessings from the Bestower of Blessings, BapDada’s love, remembrance and namaste.

Blessing: May you be a living light-and-might-house who shows wandering souls their accurate destination.
In order to show any wandering soul his accurate destination, become a living light-and-might-house. For this, pay attention to two things: 1) To discern the desire of each soul. Just as a competent doctor is one who knows how to feel someone’s pulse, in the same way, always use your power to discern. 2) Always keep with you the experience of all treasures. Always keep the aim not of having to tell people anything but of having to give an experience of all relationships and all powers.
Slogan: Instead of correcting others, keep a good connection with the Father.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 22 NOVEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 22 November 2020

Murli Pdf for Print : – 

22-11-20
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 21-01-87 मधुबन

स्व-राज्य अधिकारी ही विश्व-राज्य अधिकारी

आज भाग्यविधाता बाप अपने सर्व श्रेष्ठ भाग्य-वान बच्चों को देख रहे हैं। बापदादा के आगे अब भी सिर्फ यह संगठन नहीं है लेकिन चारों ओर के भाग्यवान बच्चे सामने हैं। चाहे देश-विदेश के किसी भी कोने में हैं लेकिन बेहद का बाप बेहद बच्चों को देख रहे हैं। यह साकार वतन के अन्दर स्थान की हद आ जाती है, लेकिन बेहद बाप के दृष्टि की सृष्टि बेहद है। बाप की दृष्टि में सर्व ब्राह्मण आत्माओं की सृष्टि समाई हुई है। तो दृष्टि की सृष्टि में सर्व सम्मुख है। सर्व भाग्यवान बच्चों को भाग्यविधाता भगवान् देख-देख हर्षित होते हैं। जैसे बच्चे बाप को देख हर्षित होते हैं, बाप भी सर्व बच्चों को देख हर्षित होते हैं। बेहद के बाप को बच्चों को देख रूहानी नशा वा फ़खुर है कि एक-एक बच्चा इस विश्व के आगे विशेष आत्माओं की लिस्ट में है! चाहे 16,000 की माला का लास्ट मणका भी है, फिर भी, बाप के आगे आने से, बाप का बनने से विश्व के आगे विशेष आत्मा है इसलिए चाहे और कुछ भी ज्ञान के विस्तार को जान नहीं सकते लेकिन एक शब्द ‘बाबा’ दिल से माना और दिल से औरों को सुनाया तो विशेष आत्मा बन गये, दुनिया के आगे महान् आत्मा बन गये, दुनिया के आगे महान् आत्मा के स्वरूप में गायन-योग्य बन गये। इतना श्रेष्ठ और सहज भाग्य है, समझते हो? क्योंकि बाबा शब्द है ‘चाबी’। किसकी? सर्व खजानों की, श्रेष्ठ भाग्य की। चाबी मिल गई तो भाग्य वा खजाना अवश्य प्राप्त होता ही है। तो सभी मातायें वा पाण्डव चाबी प्राप्त करने के अधिकारी बने हो? चाबी लगाने भी आती है या कभी लगती नहीं है? चाबी लगाने की विधि है – दिल से जानना और मानना। सिर्फ मुख से कहा तो चाबी होते भी लगेगी नहीं। दिल से कहा तो खजाने सदा हाजिर हैं। अखुट खजाने हैं ना। अखुट खजाने होने के कारण जितने भी बच्चे हैं सब अधिकारी हैं। खुले खजाने हैं, भरपूर खजाने हैं। ऐसे नहीं है कि जो पीछे आये हैं, तो खजाने खत्म हो गये हों। जितने भी अब तक आये हो अर्थात् बाप के बने हो और भविष्य में भी जितने बनने वाले हैं, उन सबसे खजाने अनेकानेक गुणा ज्यादा हैं इसलिए बापदादा हर बच्चे को गोल्डन चांस देते हैं कि जितना जिसको खजाना लेना है, वह खुली दिल से ले लो। दाता के पास कमी नहीं है, लेने वाले के हिम्मत वा पुरुषार्थ पर आधार है। ऐसा कोई बाप सारे कल्प में नहीं है जो इतने बच्चे हों और हर एक भाग्यवान हो! इसलिए सुनाया कि रूहानी बापदादा को रूहानी नशा है।

सभी की मधुबन में आने की, मिलने की आशा पूरी हुई। भक्ति-मार्ग की यात्रा से फिर भी मधुबन में आराम से बैठने की, रहने की जगह तो मिली है ना। मन्दिरों में तो खड़े-खड़े सिर्फ दर्शन करते हैं। यहाँ आराम से बैठे तो हो ना। वहाँ तो ‘भागो-भागो,’ ‘चलो-चलो’ कहते हैं और यहाँ आराम से बैठो, आराम से, याद की खुशी से मौज मनाओ। संगमयुग में खुशी मनाने के लिए आये हो। तो हर समय चलते-फिरते, खाते-पीते खुशी का खजाना जमा किया? कितना जमा किया है? इतना किया जो 21 जन्म आराम से खाते रहो? मधुबन विशेष सर्व खजाने जमा करने का स्थान है क्योंकि ‘यहाँ एक बाप दूसरा न कोई’ – यह साकार रूप में भी अनुभव करते हो। वहाँ बुद्धि द्वारा अनुभव करते हो लेकिन यहाँ प्रत्यक्ष साकार जीवन में भी सिवाए बाप और ब्राह्मण परिवार के और कोई नज़र आता है क्या? एक ही लगन, एक ही बातें, एक ही परिवार के और एकरस स्थिति, और कोई रस है ही नहीं। पढ़ना और पढ़ाई द्वारा शक्तिशाली बनना, मधुबन में यही काम है ना। कितने क्लास करते हो? तो यहाँ विशेष जमा करने का साधन मिलता है इसलिए सब भाग-भागकर पहुँच गये हैं। बापदादा सभी बच्चों को विशेष यही स्मृति दिलाते हैं कि सदा स्वराज्य अधिकारी स्थिति में आगे बढ़ते चलो। स्वराज्य अधिकारी – यही निशानी है विश्व-राज्य अधिकारी बनने की।

कई बच्चे रूहरिहान करते हुए बाप से पूछते हैं कि ‘हम भविष्य में क्या बनेंगे, राजा बनेंगे या प्रजा बनेंगे?’ बापदादा बच्चों को रेसपान्ड करते हैं कि अपने आपको एक दिन भी चेक करो तो मालूम पड़ जायेगा कि मैं राजा बनूँगा वा साहूकार बनूँगा वा प्रजा बनूँगा। पहले अमृतवेले से अपने मुख्य तीन करोबार के अधिकारी, अपने सहयोगी, साथियों को चेक करो। वह कौन? 1- मन अर्थात् संकल्प शक्ति। 2- बुद्धि अर्थात् निर्णय शक्ति। 3- पिछले वा वर्तमान श्रेष्ठ संस्कार। यह तीनों विशेष कारोबारी हैं। जैसे आजकल के जमाने में राजा के साथ महामत्री वा विशेष मत्री होते हैं, उन्हीं के सहयोग से राज्य कारोबार चलती है। सतयुग में मत्री नहीं होंगे लेकिन समीप के सम्बन्धी, साथी होंगे। किसी भी रूप में, साथी समझो वा मत्री समझो। लेकिन यह चेक करो – यह तीनों स्व के अधिकार से चलते हैं? इन तीनों पर स्व का राज्य है वा इन्हों के अधिकार से आप चलते हो? मन आपको चलाता है या आप मन को चलाते हैं? जो चाहो, जब चाहो वैसा ही संकल्प कर सकते हो? जहाँ बुद्धि लगाने चाहो, वहाँ लगा सकते हो वा बुद्धि आप राजा को भटकाती है? संस्कार आपके वश हैं या आप संस्कारों के वश हो? राज्य अर्थात् अधिकार। राज्य-अधिकारी जिस शक्ति को जिस समय जो आर्डर करे, वह उसी विधिपूर्वक कार्य करते वा आप कहो एक बात, वह करें दूसरी बात? क्योंकि निरन्तर योगी अर्थात् स्वराज्य अधिकारी बनने का विशेष साधन ही मन और बुद्धि है। मंत्र ही मन्मनाभव का है। योग को बुद्धियोग कहते हैं। तो अगर यह विशेष आधार स्तम्भ अपने अधिकार में नहीं हैं वा कभी हैं, कभी नहीं है; अभी-अभी हैं, अभी-अभी नहीं है; तीनों में से एक भी कम अधिकार में है तो इससे ही चेक करो कि हम राजा बनेंगे या प्रजा बनेंगे? बहुतकाल के राज्य अधिकारी बनने के संस्कार बहुतकाल के भविष्य राज्य-अधिकारी बनायेंगे। अगर कभी अधिकारी, कभी वशीभूत हो जाते हो तो आधाकल्प अर्थात् पूरा राज्य-भाग्य का अधिकार प्राप्त नहीं कर सकेंगे। आधा समय के बाद त्रेतायुगी राजा बन सकते हो, सारा समय राज्य अधिकारी अर्थात् राज्य करने वाले रॉयल फैमिली के समीप सम्बन्ध में नहीं रह सकते। अगर वशीभूत बार-बार होते हो तो संस्कार अधिकारी बनने के नहीं लेकिन राज्य अधिकारियों के राज्य में रहने वाले हैं। वह कौन हो गये? वह हुई प्रजा। तो समझा, राजा कौन बनेगा, प्रजा कौन बनेगा? अपने ही दर्पण में अपने तकदीर की सूरत को देखो। यह ज्ञान अर्थात् नालेज दर्पण है। तो सबके पास दर्पण है ना। तो अपनी सूरत देख सकते हो ना। अभी बहुत समय के अधिकारी बनने का अभ्यास करो। ऐसे नहीं कि अन्त में तो बन ही जायेंगे। अगर अन्त में बनेंगे तो अन्त का एक जन्म थोड़ा-सा राज्य कर लेंगे। लेकिन यह भी याद रखना कि अगर बहुत समय का अब से अभ्यास नहीं होगा वा आदि से अभ्यासी नहीं बने हो, आदि से अब तक यह विशेष कार्यकर्ता आपको अपने अधिकार में चलाते हैं वा डगमग स्थिति करते रहते हैं अर्थात् धोखा देते रहते हैं, दु:ख की लहर का अनुभव कराते रहते हैं तो अन्त में भी धोखा मिल जायेगा। धोखा अर्थात् दु:ख की लहर जरूर आयेगी। तो अन्त में भी पश्चाताप के दु:ख की लहर आयेगी इसलिए बापदादा सभी बच्चों को फिर से स्मृति दिलाते हैं कि राजा बनो और अपने विशेष सहयोगी कर्मचारी वा राज्य कारोबारी साथियों को अपने अधिकार से चलाओ। समझा?

बापदादा यही देखते हैं कि कौन-कौन कितने स्वराज्य अधिकारी बने हैं? अच्छा। तो सब क्या बनने चाहते हो? राजा बनने चाहते हो? तो अभी स्वराज्य अधिकारी बने हो वा यही कहते हो बन रहे हैं, बन तो जायेंगे? ‘गें-गें’ नहीं करना। ‘जायेंगे’, तो बाप भी कहेंगे – अच्छा, राज्य-भाग्य देने को भी देख लेंगे। सुनाया ना – बहुत समय का संस्कार अभी से चाहिए। वैसे तो बहुत-काल नहीं है, थोड़ा-काल है। लेकिन फिर भी इतने समय का भी अभ्यास नहीं होगा तो फिर लास्ट समय यह उल्हना नहीं देना – हमने तो समझा था, लास्ट में ही हो जायेंगे इसलिए कहा गया है – कब नहीं, अब। कब हो जायेगा नहीं, अब होना ही है। बनना ही है। अपने ऊपर राज्य करो, अपने साथियों के ऊपर राज्य करना नहीं शुरू करना। जिसका स्व पर राज्य है, उसके आगे अभी भी स्नेह के कारण सर्व साथी भी चाहे लौकिक, चाहे अलौकिक सभी ‘जी हजूर’, ‘हाँ-जी’ कहते हुए साथी बनकर के रहते हैं, स्नेही और साथी बन ‘हाँ-जी’ का पाठ प्रैक्टिकल में दिखाते हैं। जैसे प्रजा राजा की सहयोगी होती है, स्नेही होती है, ऐसे आपकी यह सर्व कर्मेन्द्रियां, विशेष शक्तियाँ सदा आपके स्नेही, सहयोगी रहेंगी और इसका प्रभाव साकार में आपके सेवा के साथियों वा लौकिक सम्बन्धियों, साथियों में पड़ेगा। दैवी परिवार में अधिकारी बन आर्डर चलाना, यह नहीं चल सकता। स्वयं अपनी कर्मेन्द्रियों को आर्डर में रखो तो स्वत: आपके आर्डर करने के पहले ही सर्व साथी आपके कार्य में सहयोगी बनेंगे। स्वयं सहयोगी बनेंगे, आर्डर करने की आवश्यकता नहीं। स्वयं अपने सहयोग की आफर करेंगे क्योंकि आप स्वराज्य अधिकारी हैं। जैसे राजा अर्थात् दाता, तो दाता को कहना नहीं पड़ता अर्थात् मांगना नहीं पड़ता। तो ऐसे स्वराज्य अधिकारी बनो। अच्छा। यह मेला भी ड्रामा में नूँध था। ‘वाह ड्रामा’ कह रहे हैं ना। दूसरे लोग कभी ‘हाय ड्रामा’ कहेंगे, कभी ‘वाह ड्रामा’ और आप सदा क्या कहते हो? वाह ड्रामा! वाह! जब प्राप्ति होती हैं ना, तो प्राप्ति के आगे कोई मुश्किल नहीं लगता है। तो ऐसे ही, जब इतने श्रेष्ठ परिवार से मिलने की प्राप्ति हो रही है तो कोई मुश्किल, मुश्किल नहीं लगेगा। मुश्किल लगता है? खाने पर ठहरना पड़ता है। खाओ तो भी प्रभु के गुण गाओ और क्यू में ठहरो तो भी प्रभु के गुण गाओ। यही काम करना है ना। यह भी रिहर्सल हो रही है। अभी तो कुछ भी नहीं है। अभी तो और वृद्धि होगी ना। ऐसे अपने को मोल्ड करने की आदत डालो, जैसा समय वैसे अपने आपको चला सकें। तो पट (जमीन) में सोने की भी आदत पड़ गई ना। ऐसे तो नहीं-खटिया नहीं मिली तो नींद नहीं आई? टेन्ट में भी रहने की आदत पड़ गई ना। अच्छा लगा? ठण्डी तो नहीं लगती? अभी सारे आबू में टेन्ट लगायें? टेन्ट में सोना अच्छा लगा या कमरा चाहिए? याद है, पहले-पहले जब पाकिस्तान में थे तो महारथियों को ही पट में सुलाते थे? जो नामीग्रामी महारथी होते थे, उन्हों को हाल में पट में टिफुटी (तीन फुट) देकर सुलाते थे। और जब ब्राह्मण परिवार की वृद्धि हुई तो भी कहाँ से शुरूआत की? टेन्ट से ही शुरू की ना। पहले-पहले जो निकले, वह भी टेन्ट में ही रहे, टेन्ट में रहने वाले सेन्ट (महात्मा) हो गये। साकार पार्ट होते भी टेन्ट में ही रहे। तो आप लोग भी अनुभव करेंगे ना। तो सभी हर रीति से खुश हैं? अच्छा, फिर और 10,000 मंगाके टेन्ट देंगे, प्रबन्ध करेंगे। सब नहाने के प्रबन्ध का सोचते हो, वह भी हो जायेगा। याद है, जब यह हाल बना था तो सबने क्या कहा था? इतने नहाने के स्थान क्या करेंगे? इसी लक्ष्य से यह बनाया गया, अभी कम हो गया ना। जितना बनायेंगे उतना कम तो होना ही है क्योंकि आखिर तो बेहद में ही जाना है। अच्छा।

सब तरफ के बच्चे पहुँच गये हैं। तो यह भी बेहद के हाल का श्रृंगार हो गया है। नीचे भी बैठे हैं। (भिन्न-भिन्न स्थानों पर मुरली सुन रहे हैं) यह वृद्धि होना भी तो खुशनसीबी की निशानी है। वृद्धि तो हुई लेकिन विधिपूर्वक चलना। ऐसे नहीं, यहाँ मधुबन में तो आ गये, बाबा को भी देखा, मधुबन भी देखा, अभी जैसे चाहें वैसे चलें। ऐसे नहीं करना क्योंकि कई बच्चे ऐसे करते हैं-जब तक मधुबन में आने को नहीं मिलता है, तब तक पक्के रहते हैं, फिर जब मधुबन देख लिया तो थोड़े अलबेले हो जाते हैं। तो अलबेले नहीं बनना। ब्राह्मण अर्थात् ब्राह्मण जीवन है, तो जीवन तो सदा जब तक है, तब तक है। जीवन बनाई है ना। जीवन बनाई है या थोड़े समय के लिए ब्राह्मण बनें हैं? सदा अपने ब्राह्मण जीवन की विशेषतायें साथ रखना क्योंकि इसी विशेषताओं से वर्तमान भी श्रेष्ठ है और भविष्य भी श्रेष्ठ है। अच्छा। बाकी क्या रहा? टोली। (वरदान) वरदान तो वरदाता के बच्चे ही बन गये। जो हैं ही वरदाता के बच्चे, उन्हों को हर कदम में वरदाता से वरदान स्वत: ही मिलता रहता है। वरदान ही आपकी पालना है। वरदानों की पालना से ही पल रहे हैं। नहीं तो सोचो, इतनी श्रेष्ठ प्राप्ति और मेहनत क्या की। बिना मेहनत के जो प्राप्ति होती है, उसको ही वरदान कहा जाता है। तो मेहनत क्या की और प्राप्ति कितनी श्रेष्ठ! जन्म-जन्म प्राप्ति के अधिकारी बन गये। तो वरदान हर कदम में वरदाता का मिल रहा है और सदा ही मिलता रहेगा। दृष्टि से, बोल से, सम्बन्ध से वरदान ही वरदान है। अच्छा।

अभी तो गोल्डन जुबली मनाने की तैयारी कर रहे हो। गोल्डन जुबली अर्थात् सदा गोल्डन स्थिति में स्थित रहने की जुबली मना रहे हो। सदा रीयल गोल्ड, जरा भी अलाए (खाद) मिक्स नहीं। इसको कहते हैं गोल्डन जुबली। तो दुनिया के आगे सोने के स्थिति में स्थित होने वाले सच्चे सोने प्रत्यक्ष हों, इसके लिए यह सब सेवा के साधन बना रहे हैं क्योंकि आपकी गोल्डन स्थिति गोल्डन एज को लायेगी, स्वर्णिम संसार को लायेगी, जिसकी इच्छा सबको है कि अभी कुछ दुनिया बदलनी चाहिए। तो स्व-परिवर्तन से विश्व-परिवर्तन करने वाली विशेष आत्मायें हो। आप सबको देख आत्माओं को यह निश्चय हो, शुभ उम्मीदें हों कि सचमुच स्वर्णिम दुनिया आई कि आई! सैम्पल को देखकरके निश्चय होता है ना-हाँ, अच्छी चीज़ है। तो स्वर्ण संसार के सैम्पल आप हो। स्वर्ण स्थिति वाले हो। तो आप सैम्पल को देख उन्हों को निश्चय हो कि हाँ, जब सैम्पल तैयार है तो अवश्य ऐसा ही संसार आया कि आया। ऐसी सेवा गोल्डन जुबली में करेंगे ना। नाअम्मीद को उम्मींद देने वाले बनना। अच्छा।

सर्व स्वराज्य अधिकारी, सर्व बहुतकाल के अधिकार प्राप्त करने के अभ्यासी आत्माओं को, सर्व विश्व की विशेष आत्माओं को, सर्व वरदाता के वरदानों से पलने वाली श्रेष्ठ आत्माओं को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

वरदान:- भटकती हुई आत्माओं को यथार्थ मंजिल दिखाने वाले चैतन्य लाइट-माइट हाउस भव
किसी भी भटकती हुई आत्मा को यथार्थ मंजिल दिखाने के लिए चैतन्य लाइट-माइट हाउस बनो। इसके लिए दो बातें ध्यान पर रहें: 1- हर आत्मा की चाहना को परखना, जैसे योग्य डाक्टर उसे कहा जाता है जो नब्ज को जानता है, ऐसे परखने की शक्ति को सदा यूज़ करना। 2-सदा अपने पास सर्व खजानों का अनुभव कायम रखना। सदा यह लक्ष्य रखना कि सुनाना नहीं है लेकिन सर्व सम्बन्धों का, सर्व शक्तियों का अनुभव कराना है।
स्लोगन:- दूसरों की करेक्शन करने के बजाए एक बाप से ठीक कनेक्शन रखो।

TODAY MURLI 22 NOVEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 22 November 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 21 November 2018 :- Click Here

22/11/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, your safety lies in becoming soul conscious. Become busy doing spiritual service according to shrimat and then the enemy, any form of body consciousness, will not attack you.
Question: What indicates you having a burden of sin on your head? What are the methods of making that burden light?
Answer: While there is a burden of sinful actions, you cannot imbibe knowledge. Such actions have been performed that they repeatedly create obstacles. They don’t allow you to progress. In order to lighten that burden, become conquerors of sleep. Stay awake at night and remember Baba and your burden will become light.
Song: Mother o mother, you are the bestower of fortune for the world. 

Om shanti. This is the praise of Jagadamba because this is a new creation. There cannot be a completely new creation; the old one becomes new. You have to go from the land of death to the land of immortality. This is a question of life and death: you either have to die in the land of death and become completely dead or die alive and go to the land of immortality. “The Mother of the World” means the One who creates the world. It is definite that the Father is the Creator of heaven and that He creates creation through Brahma. The Father says: I establish the sun and moon dynasty kingdoms. I have to come at the confluence age. He says: I come at the confluence age of the cycle. I come at every confluence of the cycles. This is a very clear explanation. It is just that people have made a mistake and changed the name. When people speak of omnipresence, you should ask them: Who said this? When did He say it? Where is this written? Achcha, who is the God of the Gita who says this? Shri Krishna is a bodily being. He cannot be omnipresent. If Shri Krishna’s name is changed, everything falls on the Father. The Father has to give you the inheritance. He says: I teach you Raja Yoga in order to give you the sun and moon dynasty inheritance. Otherwise, who gave him the inheritance for 21 births? It is also written that Brahmins were created through the mouth of Brahma. He sits and speaks the knowledge of the beginning, middle and end of the world to Brahmins. Therefore, surely, the One who gives this knowledge would also have these pictures made in order to explain the knowledge. In fact, there is no question of studying them, but these pictures have been made so that it can be easy to explain. A lot can be achieved with these. So there is praise of Jagadamba. It is also said: Shiv Shaktis. From whom do you receive power? From the World AlmightyFather. You also have to write the words “World Almighty Authority” in His praise. “Authority  means that He has all the knowledge of all the scriptures etc. He knows everything. He has the authority to explain it. They show the scriptures in the hands of Brahma and they also say: The secrets of the Vedas and the scriptures are spoken through the lotus-mouth of Brahma. So He is the Authority, is He not? He explains to you children the secrets of all the Vedas and scriptures. The world doesn’t know what the religious scriptures are. It is said that there are four religions. In those, there is also one main religion. That is the foundation. The example of the banyan tree is given. Its foundation has decayed, but its branches and twigs exist. That is just an example. There are many trees in the world. There will be trees in the golden age too. Yes, there won’t be jungles there, but there will be gardens. There will be forests for useful things too. Wood etc. will be needed. Many animals and birds live in the forests. However, everything there would be very good and fruitful. Birds and animals will also be the beauty there. There won’t be anything there that would make things dirty. The beauty of birds and animals is also needed. The world itself is satopradhan and so everything is also satopradhan. What else would you expect in Paradise? The first and foremost thing is that you have to claim your inheritance from the Father. Pictures continue to be made and you have to write on them: Establishment through Brahma, sustenance through Vishnu… People don’t understand these words and this is why there is the dual-form of Vishnu, Lakshmi and Narayan, who sustain everything there. They understand this. Only a handful out of multimillions will understand. Then, it is also written: There are those who are amazed by the knowledge when they listen to it, they relate it to others and then they claim their status, numberwise, according to the effort they make. These things are written somewhere or other. The words “God speaks” are also right. If the biography of God is ruined, then all the scriptures become false. It is seen that, day by day, the Father continues to give you very good points. First of all, you have to make them have the faith that God is the Ocean of Knowledge, the Seed of the human world tree. What knowledgewould the living Seed have? It would surely be of the tree. The Father comes and explains the knowledge through Brahma. The name, ‘Brahma Kumars and Kumaris’, is good. There are many kumars and kumaris of Prajapita Brahma. There is no question of blind faith in this. This is the creation. Everyone says: Baba, Mama. Or: You are the Mother and Father. Jagadamba, Saraswati, is the daughter of Brahma. She is a BK in a practical way. The new world was created through Brahma a cycle ago. Therefore, it would surely be created through Brahma now too. Only the Father explains the secrets of the beginning, the middle and the end of the world. This is why He is called k nowledgefull. The Seed would definitely have knowledge of the whole tree. His creation is the living human world. The Father teaches you Raja Yoga. The Supreme Father, the Supreme Soul, sits here and teaches you Brahmins through Brahma. You Brahmins will then become deities. You all enjoy this a great deal at the time of listening to Him but, because of body consciousness, not all of you are able to imbibe it. As soon as you leave here, everything finishes. There are many types of body consciousness. A lot of effort is needed in this. The Father says: Become conquerors of sleep. Renounce body consciousness. Become soul conscious. Stay awake at night and remember the Father because you each have a great burden of the sins of many births on your head and it doesn’t allow you to imbibe knowledge. You have performed such actions that you don’t become soul conscious. You tell a lot of lies. You write a chart of big lies and send it to Baba: I stay in remembrance 75% of the time. However, Baba says: That is impossible. The one who is ahead of everyone else says: No matter how much I try to stay in remembrance, Maya makes me forget. You should write an honest chart. Baba himself tells his own experience and so children should follow him. They don’t follow him and so they don’t even send their chart. You have been given time to make effort. To imbibe this knowledge is not like going to your aunty’s home! You mustn’t become tired in this. Some take time to understand. If not today, tomorrow they will understand. Baba has already said that those who belong to the deity religion and have been converted to other religions will come here. One day, there will also be a conference of those from Africa. They will continue to come to the land of Bharat. Previously, they never used to come here. Now, all the eminent people continue to come. The prince of Germany never used to go outside. The king of Nepal had never seen a railway. He didn’t have permission to go outside his own boundary. The Pope himself never went out anywhere, but then he came here. Everyone will come because this Bharat is the biggest pilgrimage place for those of all religions. This is why this will be advertised very powerfully. You have to tell this to those of all religions and invite them. Only those of the deity religion who have been converted will take this knowledge. Understanding is required for this. If someone understands, he will definitely blow the conch shell. We are Brahmins and we have to relate the Gita alone. It is very easy. The unlimited Father is the Creator of heaven. It is our right to claim our inheritance from Him. Everyone has a right to go to their Parent’s home, the land of liberation. They all have a right to liberation and liberation-in-life. Everyone is to receive liberation-in-life. You become free from bondage-in-life and go into peace. Then, when you come down here, you are liberated-in-life. However, not everyone receives liberation-in-life in the golden age. It is the deities who have liberation-in-life in the golden age. Those who come later experience less happiness and less sorrow. This is the account. Bharat alone which was the highest has become the most poverty-stricken. The Father Himself says: This deity religion is one that gives a lot of happiness. This drama is predestined. All come and play their own parts at their own time. Only H eavenly God, the Father , establishes heaven . No one else can do this. They say that 3000 years before Christ there truly was heaven , there was the new world. Christ would not come there. He comes at his own time. He has to repeat his part again. Only when all of this sits in your intellect will you follow shrimat. Not everyone’s intellect is the same. Courage is needed to follow shrimat. Then, Shiv Baba, whatever You feed me, whatever You give me to wear… it would be through Brahma and Jagadamba. Everything would be done through Brahma, would it not, and so, both (Shiv and Brahma) are combined. He carries out His task through Brahma alone. There are not two bodies together. Baba has seen some with combined bodies (Siamese twins). The souls of the two are separate. Baba enters this one. He is k nowledgefull. So, through whom would He give knowledge? The image of Krishna is separate. Brahma is needed here. There are so many Brahma Kumars and Kumaris. This is not blind faith. God is teaching the adopted children. Those who were adopted in the previous cycle are the ones who are adopted now. No one will say in the offices outside that they are BKs. This is incognito. You are the children of Shiv Baba anyway. However, creation has to be created for the new world. He makes the old one new. When a soul has alloy mixed in him, he becomes old. When gold has alloy mixed in it, it becomes false. When souls become false, even the bodies become false. So, how can they become real again? False things are put on a fire to purify them. So, such a huge destruction takes place. All those festivals etc. are Bharat’s. No one knows whose they are or since when they have been celebrated. Very few people are able to take knowledge. Perhaps they receive a kingdom at the end, but what is the benefit of that? That is very little happiness, is it not? Sorrow begins gradually. This is why you have to make effort very well. So many new children have become very clever. The older ones don’t pay as much attention; they have a lot of body consciousness. Only those who do service are able to climb onto to Baba’s heart. It is said: Inside they are one thing and outside something else. Baba gives a lot of love from within to the good children. Some are good externally, but internally, they are bad. Some don’t do any service; they don’t become sticks for the blind. Now, it is a question of life and death. You have to claim a high status in the land of immortality. You can recognise the ones who made effort in the previous cycle and claimed a high status. All of that is visible. The more soul conscious you become, the more you will be able to live in safety. Body consciousness defeats you. The Father says: The more spiritual service you are able to do, according to shrimat, the better it is. Baba explains to everyone. It is very easy to explain using pictures. All of you are Brahma Kumars and Kumaris. That Shiv Baba is the Senior Baba and He creates a new world. It is sung: It didn’t take God long to change human beings into deities. Even those of the Sikh religion praise that God. The words that Guru Nanak used are very good. Remember the name of the Lord and you will receive happiness. This is the essence: If you remember the true Lord, you will receive happiness, that is, you will receive the inheritance. They believe in the one incorporeal One. Death cannot come to souls. Souls become dirty, but they don’t get destroyed. This is why it is called an immortal image. The Father explains: I am the Immortal Image and so souls are also immortal, but they do come into rebirth. I am always the same. He tells you very clearly: I am the Ocean of Knowledge, Rup and also Basant. You have to understand these things and then explain them. You have to become sticks for the blind and give the donation of life. Then, there will never be untimely death. You gain victory over death. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Do spiritual service according to shrimat. Become a stick for the blind. Definitely blow the conch shell.
  2. In order to become soul conscious, keep a chart of remembrance. Specially stay awake at night and stay in remembrance. Don’t become tired of remembrance.
Blessing: May you be an elevated server who becomes an instrument for world transformation by having self-transformation.
You children have taken the contract of bringing about world transformation through self-transformation. Self-transformation is the basis of world transformation. No matter how much effort you make on any soul without your self-transformation, there can be no any transformation. This is because, in today’s world, people do not change just by hearing something, but they change when they see a change. Many who cause bondage change themselves when they see the transformation in your life. So, to demonstrate this by doing it, to demonstrate it by changing yourself is to become an elevated server.
Slogan: Change the energy of your time, thoughts and words from waste into best and you will become powerful.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 22 NOVEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 22 November 2018

To Read Murli 21 November 2018 :- Click Here
22-11-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – देही-अभिमानी बनने में ही तुम्हारी सेफ्टी है, तुम श्रीमत पर रूहानी सर्विस में लग जाओ, तो देह-अभिमान रूपी दुश्मन वार नहीं करेगा”
प्रश्नः- विकर्मों का बोझ सिर पर है, उसकी निशानी क्या होगी? उसे हल्का करने की विधि सुनाओ?
उत्तर:- जब तक विकर्मों का बोझ है तब तक ज्ञान की धारणा नहीं हो सकती। कर्म ऐसे किए हुए हैं जो बार-बार विघ्न डालते हैं, आगे बढ़ने नहीं देते हैं। इस बोझ से हल्का होने के लिए नींद को जीतने वाले निद्राजीत बनो। रात को जागकर बाबा को याद करो तो बोझ हल्का हो जायेगा।
गीत:- माता ओ माता…….. 

ओम् शान्ति। यह हुई जगत अम्बा की महिमा क्योंकि यह है नई रचना। एकदम नई रचना तो होती नहीं है। पुरानी से नई होती है। मृत्युलोक से अमरलोक जाना है। यह जैसे जीने और मरने का सवाल है या तो मृत्युलोक में मरकर ख़त्म होना है या तो जीते जी मरकर अमरलोक में चलना है। जगत की माँ माना जगत को रचने वाली। यह जरूर है बाप स्वर्ग का रचयिता है, रचना रचते हैं ब्रह्मा द्वारा। बाप कहते हैं मैं सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी राजधानी स्थापन करता हूँ। आना है संगम पर। कहते भी हैं कल्प के संगमयुगे, हर संगमयुगे आता हूँ। क्लीयर समझानी है। सिर्फ मनुष्यों ने भूल कर नाम बदली कर दिया है। सर्वव्यापी का ज्ञान जो सुनाते हैं, उसमें पूछना पड़ता है यह किसने कहा, कब कहा, कहाँ लिखा हुआ है? अच्छा, गीता का भगवान् कौन है, जो ऐसे कहते हैं? श्रीकृष्ण तो देहधारी है, वह तो सर्वव्यापी हो नहीं सकता। श्रीकृष्ण का नाम बदल जाए तो बात आ जाती है बाप पर। बाप को तो वर्सा देना है। कहते हैं मैं राजयोग सिखाता हूँ – सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी का वर्सा देने। नहीं तो 21 जन्म का वर्सा उन्हें किसने दिया? लिखा भी हुआ है ब्रह्मा मुख से ब्राह्मण रचे। फिर ब्राह्मणों को बैठ नॉलेज सुनाते हैं सृष्टि के आदि, मध्य, अन्त की। तो जो नॉलेज देने वाला है वह जरूर चित्र भी बनायेंगे समझाने लिए। वास्तव में इसमें कोई लिखने-पढ़ने की बात नहीं है। परन्तु यह सहज कर समझाने लिए चित्र बनाये हुए हैं। इनसे बहुत काम हो सकता है। तो जगत अम्बा की भी महिमा है। शिव शक्ति भी कहा जाता है। शक्ति किससे मिलती है? वर्ल्ड ऑलमाइटी बाप से। ‘वर्ल्ड ऑलमाइटी अथॉरिटी’ यह अक्षर भी महिमा में देना पड़े। अथॉरिटी माना जो भी शास्त्रों आदि की नॉलेज है, वह सब जानते हैं। अथॉरिटी है समझाने की। ब्रह्मा के हाथ में शास्त्र भी दिखाते हैं और कहते हैं ब्रह्मा मुख कमल द्वारा सभी वेद-शास्त्रों का राज़ समझाते हैं। तो अथॉरिटी हुई ना। तुम बच्चों को सभी वेद-शास्त्रों का राज़ समझाते हैं, दुनिया नहीं जानती कि धर्म शास्त्र किसको कहा जाता है। कहा भी जाता है 4 धर्म। उनमें भी एक धर्म है मुख्य। यह है फाउन्डेशन। बनेन ट्री का मिसाल भी दिया जाता है। इनका फाउन्डेशन सड़ गया है। बाकी टाल-टालियां खड़ी हैं, यह मिसाल है। दुनिया में झाड़ तो बहुत हैं। सतयुग में भी झाड़ तो होंगे ना। करके जंगल नहीं, बगीचे होंगे। काम की चीज़ों लिए जंगल भी होंगे। लकड़ा आदि तो चाहिए ना। जंगल में भी पशु-पंछी बहुत रहते हैं। परन्तु वहाँ सब चीज़ें अच्छी फलदायक होती हैं। पशु-पंछी भी शोभा हैं, परन्तु गंद करने वाले नहीं होंगे। यह पशु-पंछी ब्युटी तो चाहिए ना। सृष्टि ही सतोप्रधान है तो सब चीजें सतोप्रधान होती हैं। बहिश्त फिर तो क्या! पहली-पहली मुख्य बात – बाप से वर्सा लेना है। चित्र बनते रहते हैं, उनमें भी लिखना है ब्रह्मा द्वारा स्थापना, विष्णु द्वारा पालना…….. यह अक्षर मनुष्य समझते नहीं इसलिए विष्णु के दो रूप लक्ष्मी-नारायण हैं पालना करने वाले। यह तो समझते हैं। कोटों में कोई ही समझेंगे। फिर यह लिखा है आश्चर्यवत् सुनन्ती, कथन्ती…….. नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार अपना पद प्राप्त करते हैं। कहाँ न कहाँ यह बातें लिखी हुई हैं। भगवानुवाच अक्षर भी ठीक है। भगवान् की बायोग्राफी अगर बिगड़ जाए तो सब शास्त्र खण्डन हो जायें। देखने में आता है बाप दिन-प्रतिदिन अच्छी-अच्छी प्वाइन्ट्स देते रहते हैं। पहले-पहले तो निश्चय कराना है कि भगवान् ज्ञान का सागर है, मनुष्य सृष्टि का बीजरूप है। चैतन्य बीज में नॉलेज किसकी होगी? जरूर झाड़ की होगी। तो बाप आकर नॉलेज समझाते हैं ब्रह्मा द्वारा। ब्रह्माकुमार-कुमारियां नाम अच्छा है। प्रजापिता ब्रह्मा के कुमार-कुमारियां तो ढेर हैं। इसमें अन्धश्रधा की कोई बात नहीं। यह तो रचना है ना। बाबा-मम्मा अथवा तुम मात-पिता सब कहते हैं। जगत अम्बा सरस्वती है ब्रह्मा की बेटी। यह तो प्रैक्टिकल में बी.के. है। कल्प पहले भी ब्रह्मा द्वारा नई सृष्टि रची थी, अब फिर जरूर ब्रह्मा द्वारा ही रचना होगी। सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का राज़ बाप ही समझाते हैं इसलिए इनको नॉलेजफुल कहा जाता। बीज में जरूर पूरे वृक्ष की नॉलेज होगी। उनकी रचना चैतन्य मनुष्य सृष्टि है। बाप राजयोग भी सिखलाते हैं। परमपिता परमात्मा ब्रह्मा द्वारा ब्राह्मणों को बैठ सिखलाते हैं जो ब्राह्मण फिर देवता बनते हैं। सुनने समय मजा तो सबको बहुत आता है, परन्तु देह-अभिमान के कारण धारणा नहीं होती। यहाँ से बाहर गये और ख़लास। अनेक प्रकार का देह-अभिमान है। इसमें बड़ी मेहनत चाहिए।

बाप कहते हैं नींद को जीतने वाले बनो। देह-अभिमान छोड़ो, देही-अभिमानी बनो। रात को जागकर याद करना है क्योंकि तुम्हारे सिर पर जन्म-जन्मान्तर के विकर्मों का बोझा बहुत है जो तुमको धारणा करने नहीं देते हैं। कर्म ऐसे किये हुए हैं, इस कारण देही-अभिमानी नहीं बनते। गपोड़े बहुत मारते हैं, बड़े गपोड़े का चार्ट लिख भेजते हैं कि हम 75 परसेन्ट याद में रहते हैं। परन्तु बाबा कहते हैं – इम्पासिबुल है। सबसे आगे चलने वाला खुद कहता है – कितनी भी कोशिश करता हूँ याद करने की परन्तु माया भुला देती है। सच्चा चार्ट लिखना चाहिए। बाबा भी बतलाते हैं ना तो बच्चों को भी फालो करना चाहिए। फालो नहीं करते तो चार्ट भी नहीं भेजते हैं। पुरूषार्थ के लिए समय मिला हुआ है। यह धारणा कोई मासी का घर नहीं। इसमें थकना नहीं होता है। कोई समझने में टाइम लेते हैं, आज नहीं तो कल समझ लेंगे। बाबा ने कह दिया कि जो देवी-देवता धर्म का होगा और धर्म में कनवर्ट हो गया होगा तो वह आ जायेगा। एक दिन अफ्रीकन्स आदि की भी कॉन्फ्रेन्स होगी। भारत खण्ड में आते रहेंगे। आगे कभी आते नहीं थे। अभी सभी बड़े-बड़े आते रहते हैं। जर्मनी का प्रिन्स आदि यह सब कभी बाहर निकलते नहीं थे। नेपाल का जो किंग था उसने कभी रेल देखी नहीं थी, अपनी हद से बाहर कहाँ जाने का हुक्म नहीं था, पोप कभी बाहर नहीं निकला था, अभी आया। आयेंगे सब क्योंकि यह भारत सभी धर्म वालों का बहुत बड़े ते बड़ा तीर्थ है इसलिए यह एडवरटाइज़ जोर से निकलेगी। तुमको सब धर्म वालों को बतलाना है, निमंत्रण देना है। ज्ञान फिर भी वही उठायेंगे जो देवी-देवता धर्म वाले कनवर्ट हो गये हैं, इसमें समझ चाहिए। अगर समझें तो शंख ध्वनि जरूर करें। हम ब्राह्मण हैं ना, हमको गीता ही सुनानी है। बहुत सहज है, बेहद का बाप है स्वर्ग का रचयिता। उनसे वर्सा पाना हमारा हक है, सबका हक है अपने पियर घर (मुक्तिधाम) में जाने का। मुक्ति-जीवनमुक्ति का हक है। जीवनमुक्ति सबको मिलनी है। जीवनबन्ध से मुक्त हो शान्त में जाते हैं फिर जब आते हैं तो जीवनमुक्त हैं। परन्तु सबको सतयुग में तो जीवनमुक्ति नहीं मिलती। सतयुग में जीवनमुक्ति में थे देवी-देवता। पीछे जो आते हैं कम सुख, कम दु:ख पाते हैं। यह हिसाब-किताब है। सबसे कंगाल भारत ही बना है, जो सबसे ऊंच था। बाप भी कहते हैं – यह देवी-देवता धर्म बहुत सुख देने वाला है। यह बनी बनाई है, सब अपने-अपने समय पर अपना-अपना पार्ट बजाते हैं। हेविनली गॉड फादर ही हेविन स्थापन करते हैं और कोई कर न सके। क्राइस्ट से 3 हजार वर्ष पहले बरोबर कहते हैं हेविन था, नई दुनिया थी। क्राइस्ट कोई वहाँ थोड़ेही आयेगा। वह अपने समय पर ही आता है। फिर उनको अपना पार्ट रिपीट करना है। यह सब बुद्धि में बैठे तो श्रीमत पर चलें। सबकी बुद्धि एक जैसी नहीं है। श्रीमत पर चलने की हिम्मत चाहिए। फिर शिवबाबा आप जो खिलाओ, जो पहनाओ…….. ब्रह्मा और जगत अम्बा द्वारा। ब्रह्मा द्वारा ही सब कुछ करेंगे ना। तो दोनों कम्बाइन्ड हैं। ब्रह्मा द्वारा ही कर्तव्य करेंगे। शरीर तो दो इकट्ठे नहीं हैं। कोई-कोई कम्बाइन्ड शरीर भी देखा है बाबा ने। सोल तो दोनों की अलग-अलग हो गयी। इसमें बाबा प्रवेश करते हैं, वह है नॉलेजफुल। तो नॉलेज किस द्वारा दे? कृष्ण का चित्र तो अलग है। यहाँ तो ब्रह्मा चाहिए। प्रैक्टिकल में ब्रह्माकुमार-कुमारियां कितने हैं, यह कोई अन्धश्रधा तो नहीं है। एडाप्टेड चिल्ड्रेन को भगवान् पढ़ाते हैं। कल्प पहले जो एडाप्ट हुए हैं वही अब होते हैं। बाहर ऑफिस में तो कोई नहीं कहेंगे हम बी.के. हैं। यह गुप्त हो गया। शिवबाबा की सन्तान तो हैं ही। बाकी रचना नई सृष्टि की रचनी होती है। पुरानी से नया बनाते हैं। आत्मा में खाद पड़ने से पुरानी हो जाती है। सोने में ही खाद पड़ती है तो फिर झूठा हो जाता है। आत्मा झूठी होती है तो शरीर भी झूठा हो जाता है, फिर सच्चा कैसे हो? झूठी चीज़ को आग में डालते हैं, पवित्र करने के लिए। तो कितना बड़ा विनाश होता है। यह त्योहार आदि भी सब भारत के हैं। यह किसके और कब के हैं, कोई जानते नहीं। नॉलेज बहुत कम उठा सकते हैं। पिछाड़ी में करके राजाई मिली, उससे क्या? बहुत थोड़ा सुख हुआ ना। दु:ख तो आहिस्ते-आहिस्ते शुरू हो जाता इसलिए अच्छी रीति पुरूषार्थ करना है। कितने नये बच्चे तीखे हो गये हैं। पुराने अटेन्शन नहीं देते। देह-अभिमान बहुत है, सर्विस करने वाला ही दिल पर चढ़ेगा। कहा जाता है ना अन्दर एक, बाहर दूसरा। बाबा अन्दर से प्यार अच्छे-अच्छे बच्चों को करेंगे। कोई बाहर से अच्छे, अन्दर से खराब होते हैं। कोई सर्विस नहीं करते, अन्धों की लाठी नहीं बनते। अभी मरने-जीने का सवाल है। अमरपुरी में ऊंच पद पाना है। मालूम पड़ता है, किस-किस ने कल्प पहले पुरूषार्थ कर ऊंच पद पाया है, वह सब देखने में आता है। जितना-जितना देही-अभिमानी बनेंगे उतना सेफ्टी में चलते रहेंगे। देह-अभिमान हरा देता है। बाप तो कहेंगे – श्रीमत पर जितना रूहानी सर्विस में चल सको उतना अच्छा है। सबको बाबा समझाते हैं। चित्रों पर समझाना बहुत सहज है। ब्रह्माकुमार-कुमारियां तो सब हैं, वह शिवबाबा है बड़ा बाबा। फिर नई सृष्टि रचते हैं। गाते भी हैं मनुष्य से देवता….. सिक्ख धर्म वाले भी उस भगवान की महिमा करते, गुरू नानक के अक्षर बहुत अच्छे हैं। जप साहेब को तो सुख मिलेगा। यह है तन्त (सार), सच्चे साहेब को याद करेंगे तो सुख पायेंगे अर्थात् वर्सा मिलेगा। मानते तो हैं एकोअंकार.. आत्मा को कोई काल नहीं खा सकता। आत्मा मैली होती, बाकी विनाश नहीं होती इसलिए अकाल मूर्त कहते हैं। बाप समझाते हैं मैं अकाल मूर्त हूँ तो आत्मायें भी अविनाशी हैं। हाँ बाकी पुनर्जन्म में आती हैं। हम एकरस हैं। साफ बतलाते हैं – मैं ज्ञान का सागर हूँ, रूप-बसन्त भी हूँ। तो यह बातें समझकर समझानी है। अन्धों की लाठी बनना है। जीयदान देना है। फिर कभी अकाले मृत्यु नहीं होगा। तुम काल पर विजय पाते हो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) श्रीमत पर रूहानी सर्विस करनी है। अन्धों की लाठी बनना है। शंखध्वनि जरूर करनी है।

2) देही-अभिमानी बनने के लिए याद का चार्ट रखना है। रात को जागकर ख़ास याद करना है। याद में थकना नहीं है।

वरदान:- स्व-परिवर्तन द्वारा विश्व परिवर्तन के निमित्त बनने वाले श्रेष्ठ सेवाधारी भव
आप बच्चों ने स्व परिवर्तन से विश्व परिवर्तन करने का कान्ट्रैक्ट लिया है। स्व-परिवर्तन ही विश्व परिवर्तन का आधार है। बिना स्व-परिवर्तन के कोई भी आत्मा प्रति कितनी भी मेहनत करो, परिवर्तन नहीं हो सकता क्योंकि आजकल के समय में सिर्फ सुनने से नहीं बदलते लेकिन देखने से बदलते हैं। कई बन्धन डालने वाले भी जीवन का परिवर्तन देखकर बदल जाते हैं। तो करके दिखाना, बदलकर दिखाना ही श्रेष्ठ सेवाधारी बनना है।
स्लोगन:- समय, संकल्प और बोल की एनर्जी को वेस्ट से बेस्ट में चेंज कर दो तो शक्तिशाली बन जायेंगे।

TODAY MURLI 22 NOVEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 22 NOVEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 21 November 2017 :- Click Here

22/11/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father’s direction is: Spin the discus of self-realisation and connect your intellects in yoga to the Father. By doing this, your sins will be absolved and your burden of sins will be removed from your head.
Question: What are the specialities of this most elevated confluence age?
Answer: 1. Only this confluence age is a beneficial age. It is in this age that the real meeting, which is also called the Kumbha Mela, the meeting of souls with the Supreme Soul, takes place. 2. It is only at this time that you become true Brahmins. 3. At this confluence age, you go from the land of sorrow to the land of happiness; you become liberated from sorrow. 4. At this time you receive the full knowledge of the beginning, the middle and the end of the world from the Father, the Ocean of Knowledge. The Father gives you new knowledge for the new world. 5. You become beautiful from ugly.
Song: Take us away from this world of sin to a place of rest and comfort.

Om shanti. You sweetest children heard the song, and it is in the intellects of you children that the iron age truly is the world of sin. At this time everyone continues to commit sin. The Father comes every cycle and grants you liberation and salvation. The Purifier Father comes when the impure world has to be made pure. He comes and makes you children equal to Himself. Which knowledge does the Father have? He has the knowledge of the whole cycle. You children also know this world cycle. The Father has the knowledge of how this whole cycle turns and that is why He is called the Ocean of Knowledge. He alone is the Purifier. By understanding this cycle and by becoming spinners of the discus of self-realisation, you once again become the kings and queens of heaven, rulers of the globe. Therefore, your intellects should be spinning this discus throughout the whole day so that your sins can be absolved. Then, in the golden age, you won’t spin this discus. There, the self, that is, souls, do not have the knowledge of the world cycle. Neither in the golden age nor in the iron age do souls have it. Only at the confluence age do you receive this knowledge. The confluence age is praised a lot. They have a kumbha mela. In fact, it is the mela (meeting) of the Ocean of Knowledge and the rivers, that is, it is the meeting of the Supreme Soul with souls. That kumbha mela belongs to the path of devotion. This meeting of souls with the Supreme Soul only takes place at this beautiful, beneficial confluence age when you become liberated from sorrow and go into happiness. This is why the Father is called the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. Happiness lasts for half the cycle and sorrow lasts for half the cycle. Day and night are half and half. Buildings too are new and old. There is happiness in a new home and sorrow in an old home. The world too is new and old. There is happiness for half the cycle and then sorrow begins in the middle. After sorrow, there is happiness again. How does the land of sorrow become the land of happiness? Who makes it that? No one in the whole world knows this. Human beings are in total darkness. They have given the golden age a long duration. If the duration of the golden age were that long, there would be so many people there! Not a single person can go back home. Everyone has to get together here. Only when the Father comes and shows you the way home can you go back. The Father comes at the confluence age and shows all of these many souls the way home. You know that, having gone around the cycle of 84 births, you have now come here. How many births you have taken in the golden and silver ages and who rules for how many years is all in your intellects. In the golden age you are 16 celestial degrees full. Then, in the silver age, you are 14 degrees and it is then the stage of descent. At this time there is a lot of sorrow. There is only sorrow in the old world. The golden age is called the new world and the iron age is called the old world. It is now the confluence. The old world is now to be destroyed. The Father is creating the new world. You will leave the old world and then go and sit in the new home. You say that you are making effort to go to the new home so that you can claim a high status in the new world. The Father says: Simply remember Me alone. He doesn’t give you any other difficulty. You should somehow make time and obey His instructions. However, Maya is such that she doesn’t allow you to obey them. She doesn’t allow you to connect your intellects in yoga to the Father. You children made effort in the previous cycle too and gained victory over Maya, Ravan, and that was how the golden age was established. To the extent that someone becomes a helper, accordingly, he or she receives a prize. Therefore, you children also have to give this knowledge to your friends and relatives. The Father’s directions are: Remember Me! Each of you has a burden of sin of half the cycle on your head and there is no way to burn it other than by having remembrance. People say that the Rivers Ganges and Jamuna are the Purifiers and they believe that they will be made pure by them. However, how can sins be cut away with water? This is the impure world and that is why everyone calls out: O Purifier, come and establish the golden age! No one, apart from the Father, can establish it. Therefore, this is new knowledge for the new world. It is only the one Father who gives it. Krishna didn’t give knowledge. Krishna cannot be called the Purifier. Only the Supreme Father, the Supreme Soul, is the Purifier and He is beyond rebirth. You know that the land of Krishna is also called the land of Vishnu. The kingdom of Krishna is separate from the kingdom of Radhe, and then the two of them become engaged. Radhe and Krishna were not sister and brother. Brother and sister would not get married to one another. These things now continue to bubble in your intellects. Previously, you didn’t know this. You now know that it is Radhe and Krishna who become Lakshmi and Narayan, the empress and emperor of heaven. Krishna and Radhe are remembered as the prince and princess. Their parents don’t have such a high status. Why is that? Because their parents studied less. The names of Radhe and Krishna are so well known, but it is as though their parents’ names are not even mentioned. In fact, the names of those who gave birth to them should be very well known, but no! Radhe and Krishna are the highest of all. There is no one higher than them. Radhe and Krishna claim the first number and they become the first emperor and empress. Although they take birth through their parents, it is their names that are higher. This has to be made to sit very clearly in your intellects. While you are sitting here, continue to spin the discus, of self-realisation. By spinning this discus your sins are burnt away, that is, you cut off Ravan’s head. There is the cycle of the golden, silver, copper and iron ages. At first we were deities and then we became warriors, merchants and shudras. We have now once again become Brahmins. We will then become deities. Baba has explained a different meaning for “Om” and a different meaning for “Hum so”. In the scriptures, they have given the same meaning to both. They believe that “Om” means: “I, the soul, am the Supreme Soul and the Supreme Soul is the soul.” That is wrong. The Father explains: “Om” means I am a soul, a child of the Supreme Father, the Supreme Soul. “I am God” is not the meaning of “Om”. I, the soul, am incorporeal and my Father is also incorporeal. The father of a corporeal body is corporeal. I am a child of the Supreme Soul, and so I definitely need the kingdom of heaven. The Father has come to give us the inheritance of heaven. After half the cycle, Ravan curses you and you therefore become unhappy and tamopradhan. Then, the Father comes and gives you a blessing to make you happy. He doesn’t say, “May you have a long life,” but He does say, “Remember Me and all of your sins of many births, including those of this birth, will be burnt away.” This is called the fire of yoga. In Ravan’s kingdom, everyone definitely has to become impure. It is souls that become impure and pure. God is ever pure and He makes everyone pure. It is Ravan who makes you impure. There are no vices in the golden age. That is the completely viceless world and this is why people go in front of the deity idols and sing: You are full of all virtues. They don’t sing this praise in front of Shiva. The deities who were pure then became impure. This is a play. The Father creates the land of happiness. Shiva is called the Father. Saligrams are separate. When they create a sacrificial fire of Rudra, they make one big lingam. All the rest are small saligrams. We souls take 84 births. You wouldn’t say that those of other religions take 84 births. How many births would those of the Sikh religion take in 500 years? How many births do we take? The Father explains this. The topknot of Brahmins is very well known. Real Brahmins exist at the confluence age. This is the beneficial age. It is here that all of you are benefited. Ravan brings a loss and the Father comes and benefits you. Therefore, you should follow the Father’s directions and bring benefit. Shrimat are the versions of God Shiva. Shiv Baba doesn’t take birth; He just enters someone else’s body. Only if He also took sustenance could you say He takes birth. He never takes any sustenance. He says: Simply follow My shrimat and become the masters of heaven. I have no desire to become that. I am Abhogta (beyond experience of the senses). Therefore, you souls should understand that Baba is explaining to you. It is the soul that understands. It is the soul that becomes a barrister or an engine er: I am so-and-so. The soul said: I was a deity and after eight births, I became a warrior. Then, I took 12 births and, after that, I continued to become impure. The Father says: Children, may you be soul conscious! These matters have to be understood. The soul says: When I was in the golden age, I was a great soul. Then, in the iron age, I became a greatly sinful soul. The greatest of all great souls is the one Supreme Soul who is ever pure. Here, human beings don’t remain ever pure. It is only in the land of happiness that they always remain pure. Even in the silver age, there are fewer degrees. It is now our stage of ascent and we are becoming the masters of heaven. Then, when we go into the silver age, there will be two degrees fewer. Then, in the copper age, when there is the eclipse of the five vices, we continue to become ugly. The Father says: Now, donate those five vices and the eclipse will be removed and you will become golden-aged, perfect deities. First of all, let go of body consciousness. Donate the vice of lust. At the end, you have to become destroyers of attachment. You souls have now remembered that you truly have experienced 84 births. Ravan cursed you in the copper age and that is why everyone is unhappy. Would the kings and queens of the copper age not fall ill? That too is sorrow, is it not? This is the world of sorrow. The golden age is the land of happiness. Therefore, you should obey God’s shrimat. Those who don’t obey the directions of the unlimited Father are called greatly unworthy souls. What inheritance would unworthy children receive from the Father? Worthy children claim a good inheritance. They become pure themselves and enable others to become pure. The unlimited Father is teaching you souls: O souls, are you listening with your ears? You say: Yes Baba. I will follow Your shrimat and definitely become elevated. Since God is the Highest on High, He would definitely also give you the highest-on-high status, would He not? He gives you the inheritance of heaven for half the cycle. You receive a limited inheritance from a worldly father; that is temporary happiness. In the iron age, happiness is like the droppings of a crow and that is why sannyasis leave their homes. They don’t believe in the household religion. There is the household religion in the golden age. You know that, through this study, you go to the land of Vishnu and that the Supreme Father, the Supreme Soul, is teaching us for that. Devotees don’t know who God is, what His task is or how He makes impure ones pure. You are now becoming pure. People of the world remember that Purifier Father. You are now standing at the confluence age. All the rest are in the iron age. Those people believe that the iron age is still in its infancy. You know that the iron age is now about to be destroyed. You now have to go to the golden age. The Father has reminded you: I give you the inheritance every cycle. Therefore, you should claim your full inheritance. The Father doesn’t tell you to just sit here. You may live at home, but simply continue to spin the discus of self-realisation and become destroyers of attachment. Belong to one Shiv Baba and none other. We know that we are now forging a new relationship, and so there shouldn’t be any attachment to the old ones. Have attachment to the new world and the new kingdom. Death is now just over your heads. Preparations for that continue to be made. There is no untimely death in the golden age. When it is time, you shed your old skins (bodies) and take other new ones. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Spin the discus of self-realisation and become a complete destroyer of attachment. Death is just over your head. Therefore, remove your attachment from everyone.
  2. In order to claim your inheritance from the Father, follow shrimat fully. Be soul conscious and become a worthy child.
Blessing: May you be an intense effort-maker and be constantly ever ready by considering every moment to be the final moment.
The children who are intense effort-makers remain ever ready by considering every moment to be the final moment. They never think that there is still some time left for destruction to take place and that they will be ready by then. Instead of looking at those final moments, think that there is no guarantee about your final moment and you will then remain ever ready. Let your stage remain constantly beyond. Be detached from everyone and loving to the Father: a destroyer of attachment. Be constantly free from attachment, free from sinful thoughts and free from waste thoughts. When there is no waste, you will then be said to be ever ready.
Slogan: In order to pass with honours in delicate times, increase your power to adjust.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 22 NOVEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 22 November 2017

November 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 21 November 2017 :- Click Here
22/11/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – बाप का फरमान है स्वदर्शन चक्र फिराते अपना बुद्धियोग एक बाप से लगाओ, इससे विकर्म विनाश होंगे, सिर से पापों का बोझा उतर जायेगा”
प्रश्नः- इस पुरुषोत्तम संगमयुग की विशेषतायें कौन-कौन सी हैं?
उत्तर:- यह संगमयुग ही कल्याणकारी युग है – इसमें ही आत्मा और परमात्मा का सच्चा मेला लगता है जिसे कुम्भ का मेला कहते हैं। 2- इस समय ही तुम सच्चे-सच्चे ब्राह्मण बनते हो। 3- इस संगम पर तुम दु:खधाम से सुखधाम में जाते हो। दु:खों से छूटते हो। 4- इस समय तुम्हें ज्ञान सागर बाप द्वारा सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का पूरा ज्ञान मिलता है। नई दुनिया के लिए नया ज्ञान बाप देते हैं। 5- तुम सांवरे से गोरा बनते हो।
गीत:- इस पाप की दुनिया से…..

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे बच्चों ने गीत सुना और बच्चों की बुद्धि में यह बैठा हुआ है कि बरोबर कलियुग पाप की दुनिया है। इस समय सब पाप ही करते रहते हैं। बाप आकर तुम बच्चों को कल्प-कल्प गति सद्गति देते हैं, जब पतित दुनिया को पावन बनाना होता है तब पतित-पावन बाप आते हैं, आकर बच्चों को आप समान बनाते हैं। बाप में कौन सा ज्ञान है? सारे सृष्टि चक्र का ज्ञान है। तुम बच्चे भी इस सृष्टि चक्र को जानते हो। यह सारा चक्र कैसे फिरता है, यह बाप में ज्ञान है, इसलिए उनको ज्ञान का सागर कहा जाता है। वही पतित-पावन है। इस चक्र को समझने से, स्वदर्शन चक्रधारी बनने से तुम फिर स्वर्ग के चक्रवर्ती राजा रानी बनते हो। तो बुद्धि में सारा दिन यह चक्र फिरना चहिए तो तुम्हारे विकर्म विनाश हो जायेंगे। फिर सतयुग में तो तुम यह चक्र नहीं फिरायेंगे। वहाँ स्व अर्थात् आत्मा को सृष्टि चक्र का ज्ञान नहीं होता। न सतयुग में, न कलियुग में, यह ज्ञान सिर्फ संगमयुग पर तुमको मिलता है। संगम की बहुत महिमा है। कुम्भ का मेला करते हैं ना। वास्तव में यह है ज्ञान सागर और नदियों का मेला अर्थात् परम आत्मा और आत्माओं का मेला। वह कुम्भ का मेला भक्ति मार्ग का है। यह आत्मा और परमात्मा का मेला इस सुहावने कल्याणकारी संगमयुग पर ही होता है, जबकि तुम दु:खों से छूट सुख में जाते हो इसलिए बाप को दु:ख हर्ता सुख कर्ता कहा जाता है। आधाकल्प सुख और आधाकल्प दु:ख चलता है। दिन और रात आधा-आधा है। मकान भी नया पुराना होता है। नये घर में सुख, पुराने घर में दु:ख होता है। दुनिया भी नई और पुरानी होती है। आधाकल्प सुख रहता है फिर मध्य से दु:ख शुरू होता है। दु:ख के बाद फिर सुख होता है। दु:खधाम से फिर सुखधाम कैसे बनता है, कौन बनाते हैं। यह दुनिया भर में कोई नहीं जानते। मनुष्य तो घोर अन्धियारे में हैं। सतयुग को बहुत लम्बा समय दे दिया है। अगर सतयुग की आयु बड़ी हो तो आदमी कितने होने चाहिए। वापिस तो कोई भी जा नहीं सकते। सबको इक्ट्ठा होना ही है। वापिस तो तब जायें जब बाप आकर घर का रास्ता बताये। इतनी सब आत्माओं को बाप संगमयुग पर आकर पूरा रास्ता बताते हैं, तुम जानते हो हम 84 जन्मों का चक्र लगाकर आये हैं। सतयुग, त्रेता में हमने कितने जन्म लिये हैं, वहाँ कितने वर्ष कौन-कौन राज्य करते हैं। सारा तुम्हारी बुद्धि में है। सतयुग में हैं 16 कला सम्पूर्ण, फिर 14 कला फिर उतरती कला होती है। इस समय बहुत दु:ख है। दु:ख होता ही है पुरानी दुनिया में। सतयुग को नई दुनिया, कलियुग को पुरानी दुनिया कहा जाता है। अभी है संगम। अब पुरानी दुनिया का विनाश होता है, बाप नई दुनिया बना रहे हैं। तुम पुरानी दुनिया से निकल जाए नये घर में बैठेंगे। तुम कहेंगे हम नये घर के लिए पुरुषार्थ कर रहे हैं कि हम नई दुनिया में ऊंच पद पायें। बाप सिर्फ कहते हैं मुझे याद करो और कोई तकलीफ नहीं देते। कैसे भी टाइम निकाल फरमान मानना चाहिए। परन्तु माया ऐसी है जो फरमान मानने नहीं देती। बाप से बुद्धियोग लगाने नहीं देती। परन्तु तुम बच्चों ने कल्प पहले भी पुरुषार्थ कर इस माया रूपी रावण पर जीत पाई है तब तो सतयुग की स्थापना होती है। जितना जो मददगार बनता है उनको उतना इज़ाफा भी मिलता है। तो बच्चों को यह नॉलेज मित्र सम्बन्धियों को भी देनी है। बाप का फरमान है कि मुझे याद करो क्योंकि आधाकल्प के विकर्मो का बोझा सिर पर है, उनको भस्म करने का कोई उपाय नहीं सिवाए याद के। भल गंगा जमुना को पतित-पावनी कहते हैं, समझते हैं हम पावन हो जायेंगे परन्तु पानी से पाप कैसे कटेंगे। यह है पतित दुनिया तब सब पुकारते हैं हे पतित-पावन आकर सतयुग की स्थापना करो। सो तो सिवाए बाप के कोई स्थापन कर न सके। तो यह है नई दुनिया के लिए नया ज्ञान। देने वाला एक ही बाप है, कृष्ण ने ज्ञान नहीं दिया, कृष्ण को पतित-पावन नहीं कहा जाता। पतित-पावन तो एक ही परमपिता परमात्मा है, जो पुनर्जन्म रहित है।

तुम जानते हो- कृष्णपुरी को ही विष्णुपुरी कहा जाता है। कृष्ण की राजधानी अपनी, राधे की राजधानी अपनी फिर उन्हों की आपस में सगाई होती है। राधे कृष्ण कोई भाई बहन नहीं थे। भाई बहन की आपस में शादी नहीं होती। अब तुम्हारी बुद्धि में यह बातें टपकती रहती हैं। पहले यह नहीं जानते थे। अब मालूम पड़ा है कि राधे कृष्ण ही फिर लक्ष्मी-नारायण बनते हैं। स्वर्ग के महाराजा और महारानी, प्रिन्स और प्रिन्सेज राधे कृष्ण गाये हुए हैं। उन्हों के माँ बाप का इतना उंचा मर्तबा नहीं है। यह क्यों हुआ? क्योंकि उन्हों के माँ बाप कम पढ़े हुए हैं। राधे कृष्ण का जितना नाम है, उन्हों के माँ बाप का तो जैसे नाम है नहीं। वास्तव में जिसने जन्म दिया उन्हों का नाम बहुत होना चाहिए। परन्तु नहीं, राधे कृष्ण सबसे ऊंच हैं। उन्हों के ऊपर तो कोई है नहीं। राधे कृष्ण पहले नम्बर में गये हैं फिर पहले नम्बर में महाराजा महारानी भी बने हैं। भल जन्म माँ बाप से लिया है परन्तु नाम उन्हों का ऊंचा है। यह बुद्धि में अच्छी तरह बिठाना है। जबकि तुम यहाँ बैठे हो तो यह स्वदर्शन चक्र फिराते रहो। इस चक्र फिराने से तुम्हारे पाप भस्म होते हैं अर्थात् रावण का सिर कटता है। यह सतयुग, त्रेता… का चक्र है ना। हम पहले सो देवता थे फिर क्षत्रिय, वैश्य…. बनें। अब फिर हम ब्राह्मण बने हैं। फिर हम सो देवता बनेंगे। बाबा ने ओम् का अर्थ अलग समझाया है, हम सो का अर्थ अलग है। शास्त्रों में एक ही कर दिया है। वह समझते हैं ओम् अर्थात् हम आत्मा सो परमात्मा। परमात्मा सो आत्मा – यह है उल्टा। बाप समझाते हैं ओम् अर्थात् हम आत्मा हैं, परमपिता परमात्मा की सन्तान हैं। मैं भगवान, यह कोई ओम् का अर्थ नहीं है। हम आत्मा निराकार हैं। हमारा बाप भी निराकार है। साकार शरीर का बाप भी साकार है। हम परमात्मा की सन्तान हैं तो हमको स्वर्ग की राजधानी जरूर चाहिए। बाप हमको स्वर्ग का वर्सा देने आये हैं। रावण फिर आधाकल्प के बाद श्राप देते हैं तो तुम दु:खी तमोप्रधान बन जाते हो। फिर बाप आकर सुखी बनने का वर देते हैं। ऐसे नहीं कहते चिरन्जीवी भव। परन्तु कहते हैं मुझे याद करो तो इस जन्म सहित जो भी जन्म जन्मान्तर के पाप हैं वह भस्म हो जायेंगे, इसको योग अग्नि कहा जाता है। रावणराज्य में सबको पतित जरूर बनना है। पतित और पावन आत्मा बनती है, परमात्मा तो सदैव पावन है, वह सबको पावन बनाते हैं। पतित बनाते हैं रावण। सतयुग में विकार होते नहीं। वह है सम्पूर्ण निर्विकारी दुनिया, तब तो देवताओं के आगे जाकर गाते हैं – आप सर्वगुण सम्पन्न….. यह महिमा शिव के आगे नहीं गायेंगे। देवतायें जो पावन हैं सो पतित बनते हैं, यह खेल है। बाप सुखधाम बनाते हैं, शिव को बाप कहते हैं। सालिग्राम अलग हैं, रुद्र यज्ञ में एक बड़ा लिंग बनाते हैं, बाकी छोटे-छोटे सालिग्राम बनाते हैं। हम आत्मा 84 जन्म लेते हैं, दूसरे धर्म वालों के लिए 84 जन्म नहीं कहेंगे। सिक्ख धर्म वाले 500 वर्ष में कितने जन्म लेते होंगे? हम कितने लेते हैं? यह बाप समझाते हैं, ब्राह्मणों की ही चोटी मशहूर है। सच्चे ब्राह्मण होते ही हैं संगम पर। यह कल्याणकारी युग है। यहाँ ही तुम सबका कल्याण होता है। रावण अकल्याण करते हैं, बाप आकर कल्याण करते हैं। तो बाप की मत पर चल कल्याण करना चाहिए ना। श्रीमत शिव भगवानुवाच – शिवबाबा जन्म नहीं लेते, वह प्रवेश करते हैं। जन्म तब कहें जब पालना लेवें। वह कभी पालना नहीं लेते हैं। सिर्फ कहते हैं मेरी श्रीमत पर चलो। स्वर्ग के तुम मालिक बनो। मुझे तो बनना नहीं है, मैं तो अभोक्ता हूँ।

तो समझना चाहिए बाबा हम आत्माओं को समझा रहे हैं, आत्मा ही समझती है ना। आत्मा ही बैरिस्टर, इन्जीनियर बनती है। मैं फलाना हूँ। आत्मा ने कहा – हम देवता थे, फिर हम 8 जन्म बाद क्षत्रिय बने, फिर 12 जन्म लिये, फिर मैं पतित बनता हूँ। अब बाप कहते हैं बच्चे, आत्म-अभिमानी भव। यह समझने की बातें हैं। आत्मा कहती है हम सतयुग में थे तो महान आत्मा थे फिर कलियुग में महान पाप आत्मा हैं। सबसे महान ते महान, महान आत्मा है एक परमात्मा, जो सदैव पवित्र है। यहाँ तो मनुष्य सदैव पवित्र रहते नहीं। सदैव पवित्र तो सुखधाम में रहते हैं। त्रेता में भी कुछ कला कम होती जाती हैं। अभी हमारी चढ़ती कला है। हम स्वर्ग के मालिक बनते हैं। फिर त्रेता में आयेंगे तो 2 कला कम हो जायेंगी फिर द्वापर में 5 विकारों का ग्रहण लगने से काले होते जाते हैं। अभी बाप कहते हैं इन 5 विकारों का दान दो तो ग्रहण उतर जाये, फिर तुम सतयुगी सम्पूर्ण देवता बन जायेंगे। पहले-पहले देह-अभिमान छोड़ो, काम विकार का दान दो। अन्त में आकर नष्टोमोहा बनना होता है। अभी तुम आत्माओं को स्मृति आई है कि हमने बरोबर 84 जन्म भोगे हैं। द्वापर से रावण ने श्रापित किया है, इसलिए सब दु:खी हैं। क्या द्वापर के राजा रानी आदि बीमार नहीं पड़ते होंगे? यह भी दु:ख हुआ ना। यह है ही दु:ख की दुनिया, सतयुग ही है सुखधाम। तो भगवान की श्रीमत माननी चाहिए ना। बेहद के बाप की जो मत नहीं मानते उन्हें महान कपूत कहा जाता है। कपूत बच्चे को बाप से क्या वर्सा मिलेगा! सपूत बच्चे वर्सा भी अच्छा लेते हैं। जो खुद पवित्र बन औरों को पवित्र बनाते हैं। बेहद का बाप आत्माओं को पढ़ाते हैं हे आत्मायें कानों से सुनती हो? कहते हैं हाँ बाबा हम आपकी श्रीमत पर चल जरूर श्रेष्ठ बनेंगे। ऊंच ते ऊंच भगवान है तो जरूर पद भी ऊंच ते ऊंच देंगे ना। स्वर्ग का वर्सा देते हैं आधाकल्प के लिए। लौकिक बाप से तो हद का वर्सा मिलता है, अल्पकाल का सुख। कलियुग में है काग विष्ठा समान सुख इसलिए सन्यासी घरबार छोड़ देते हैं। वह गृहस्थ धर्म को नहीं मानते हैं। गृहस्थ धर्म सतयुग में है ना।

तुम जानते हो इस पढ़ाई से हम विष्णुपुरी में जाते हैं उसके लिए परमपिता परमात्मा हमको पढ़ा रहे हैं। भक्तों को पता ही नहीं है कि भगवान कौन है, उनका कर्तव्य कौन सा है? कैसे वह पतित से पावन बनाते हैं? अभी तुम पावन बन रहे हो। दुनिया उस पतित-पावन बाप को याद कर रही है। अभी तुम संगमयुग पर खड़े हो, बाकी सब कलियुग में हैं। वह समझते हैं कि कलियुग तो अजुन बच्चा है। तुम जानते हो कि कलियुग का अब विनाश होने पर है। अब तुम्हें सतयुग में जाना है। बाप ने तुम्हें स्मृति दिलाई है – मैं कल्प-कल्प तुमको वर्सा देता हूँ। तो वर्सा पूरा लेना चाहिए ना। तो बाप ऐसे थोड़ेही कहते हैं कि यहाँ बैठ जाओ। भल घर गृहस्थ में रहो सिर्फ यह स्वदर्शन चक्र फिराते रहो और नष्टोमोहा हो जाओ। एक शिवबाबा दूसरा न कोई, हम जानते हैं कि अब हमारा नया सम्बन्ध जुट रहा है, तो पुराने में ममत्व नहीं रहना चाहिए। नई दुनिया, नई राजधानी से ममत्व रखना है। अब तो मौत बिल्कुल सिर पर सवार है। तैयारियाँ होती रहती हैं। सतयुग में अकाले मृत्यु होती नहीं। समय पर एक पुरानी खाल छोड़ नई ले लेते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) स्वदर्शन चक्र फिराते पूरा-पूरा नष्टोमोहा बनना है। मौत सिर पर है इसलिए सबसे ममत्व निकाल देना है।

2) बाप से वर्सा लेने के लिए पूरा श्रीमत पर चलना है। आत्म-अभिमानी बन सपूत बच्चा बनना है।

वरदान:- हर घड़ी को अन्तिम घड़ी समझ सदा एवररेडी रहने वाले तीव्र पुरूषार्थी भव 
जो बच्चे तीव्र पुरूषार्थी हैं वह हर घड़ी को अन्तिम घड़ी समझकर एवररेडी रहते हैं। ऐसा नहीं सोचते कि अभी तो विनाश होने में कुछ टाइम लगेगा, फिर तैयार हो जायेंगे। उस अन्तिम घड़ी को देखने के बजाए यही सोचो कि अपनी अन्तिम घड़ी का कोई भरोसा नहीं इसलिए एवररेडी, अपनी स्थिति सदा उपराम रहे। सबसे न्यारे और बाप के प्यारे, नष्टोमोहा। सदा निर्मोही और निर्विकल्प, निरव्यर्थ, व्यर्थ भी न हो तब कहेंगे एवररेडी।
स्लोगन:- नाजुक समय पर पास विद ऑनर बनना है तो एडॅजेस्ट होने की शक्ति को बढ़ाओ।

 

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize