21 june ki murli

TODAY MURLI 21 JUNE 2021 DAILY MURLI (English)

21/06/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, there is just one way to become pure – have remembrance of the Father. Only the effort of having remembrance will be useful at the end.
Question: What tilak should you apply at the confluence age so that you receive the tilak of the kingdom in the golden age?
Answer: At the confluence age, apply the tilak of being a soul, a point, and not a body. Continue to make it firm within yourself that you are a soul and that you have to claim your inheritance from the Father. “Baba is a point and I am also a point”. With this tilak you will attain the tilak of the kingdom of heaven. Baba says: If you remember Me, I guarantee that you will be saved from crying for half the cycle.

Om shanti. You need to have this concern: I, the soul, definitely need to remember the Father, because only then can I become pure. All the effort is required just for this. However, you children are unable to make this effort. Maya troubles you a lot; she makes you forget to have remembrance of the one Father because there is remembrance of other beings. You then don’t remember the Father or the Bridegroom. You have to do the service of remembering such a Bridegroom for a minimum of eight hours; you have to give your Bridegroom help by remembering Him, that is, you children should remember the Father. This endeavour is very great. The term “Manmanabhav” is mentioned in the Gita. Continue to remember the Father; continue to remember the one Father while walking and moving around. There is nothing else you have to do. At the end, it is this remembrance that will be useful. Consider yourself to be a bodiless soul who now has to return home. You have to make a great deal of this effort. In the morning, after bathing etc., come and sit in solitude on the roof terrace or in the hall. The more solitude there is, the better. Always think that you have to remember the Father. You have to claim your full inheritance from the Father. You have to make this effort every 5000 years. You will not have to make this effort in the golden, silver, copper and iron ages. It is only at the confluence age that the Father tells you: Remember Me! That is all. This is the time when the Father says: Remember Me! The Father only comes at the confluence age. He doesn’t come at any other time. You also know this, numberwise, according to the efforts you make. Many children forget the Father and this is why they are deceived a great deal. Ravan is very deceitful. He is your enemy for half the cycle. This is why the Father says: Wake up early every morning and churn this ocean of knowledge and keep your chart of how long you remembered the Father and how much rust would have been removed. Everything depends on remembrance. You children have to try very hard to claim your full inheritance. You have to become Narayan from ordinary humans. This is the story of the true Narayan. Devotees have a gathering on the day of the full moon when they relate the story of the true Narayan. You now know that you have to become sixteen celestial degrees full. You can only become that by having remembrance of the true Father. The Father is the One who gives you shrimat. The Father says: You may live at home and do your business etc. but you definitely have to remember the Father and become pure; that is all! If you don’t remember the Father, you are deceived by Ravan in one way or another. This is why the main thing of remembrance is explained to you. You have to remember Shiv Baba. Forget all your bodily relations, including your bodies, and have the faith that each of you is a soul. The Father repeatedly tells you: Consider yourselves to be souls and remember the Father. Otherwise, you will be deceived a great deal and there will have to be a lot of repentance at the end. You will be slapped so hard that Maya will make your faces completely ugly. The Father has come to make your faces beautiful. At this time, everyone continues to make each other’s face ugly. It is only the one Father who can make you beautiful and it is by remembering Him that you will become the beautiful masters of heaven. This is the impure world. The Father comes to make the impure ones pure. Baba has no connection with your business etc. You can continue with whatever you need to do for the livelihood of your body. The Father simply says: Manmanabhav! You ask how you can become the masters of the pure world. The Father says: Simply remember Me! That is all. There is no other way to become pure. No matter how much they donate or how much charity they perform or how much effort they make even to walk on fire etc., nothing except having remembrance of the Father will be useful. This is a very simple thing; it is called easy yoga. Ask yourself for how long you remember your sweet Father throughout the whole day. No sins are committed when you are asleep; you become bodiless at that time. However, throughout the day, a lot of sins are committed and there are still the sins of the past. You have to make effort to have remembrance. You have come here and so you have to make this effort. Finish all the wasteful thoughts of everything outside. Otherwise, it will spoil the atmosphere very much. Sometimes, you continue to have thoughts of your home or farm etc. Sometimes, you remember your children and sometimes, your guru. If you continue to have these thoughts, you spoil the atmosphere. Those who don’t make effort continue to create obstacles. These are such subtle matters. Only at this time, and at no other time, do you know this. Only at this time does the Father give you the inheritance and He then becomes carefree for half the cycle. There is so much difference between the concerns of your worldly fathers and those of the unlimited Father. The Father says: I have so many concerns on the path of devotion. The devotees remember Me so much again and again. No one remembers Me in the golden age. The Father says: I give you so much happiness that you don’t need to remember Me there. At that time, I know My children are sitting in the land of peace or the land of happiness. No other human beings can understand this. Maya causes obstacles in their intellects to having faith in such a Father. The Father says: Simply remember Me and the alloys of silver, copper and iron that are mixed in you will be removed. As you go from the golden age to the silver age, there are two degrees less. You listen to and understand these things. These things will sit very clearly in the intellects of those who are true Brahmins. Otherwise, they won’t sit in their intellects. They won’t be able to stay in remembrance. Everything depends on remembering the Father. He repeatedly says: Children, remember the Father! This Baba also says: Remember Shiv Baba! Shiv Baba Himself says: Remember Me, the Father! He calls you souls: O children! The incorporeal Supreme Soul speaks to souls. This is the main thing. First of all, tell anyone who comes to remember Alpha. You don’t need to go on and on about anything else. Simply tell them: Consider yourselves to be souls and remember the Father! Continue to make this firm in yourself: I am a soul. It is remembered that Tulsidas rubbed sandalwood to form a paste and Raghuvir gave the tilak (of that paste). However, it is not a question of a physical tilak. You understand that the tilak is in fact a memorial of this time. You continue to stay in remembrance, that is, you are given the tilak of the kingdom. You will receive the tilak of the kingdom and become double crowned. You will receive the tilak of the kingdom, that is, you will become emperors and empresses of heaven. The Father explains everything to you so easily. Simply remember you are souls and not bodies. You have to receive your inheritance from the Father. You souls know you are points and that Baba is also a point. Baba is the Ocean of Knowledge and the Ocean of Happiness. He gives us blessings. He comes and sits next to this one. A guru seats his disciple next to him and teaches him. This one is also sitting next to Him. He simply tells you children: Consider yourselves to be souls and constantly remember Me alone! You consider yourselves to be souls in the golden age, but you don’t know the Father. I, the soul, shed a body and take another. According to the drama, such are your parts. This is why your lifespans there remain long; you remain pure there. In the golden age your lifespans are long whereas in the iron age they are short. There, you are yogis whereas here, you are bhogis (indulge in vice). Yogis are pure. There is no kingdom of Ravan there, so lifespans are long. Here, lifespans are so short! This is called the suffering of karma. There is never any untimely death there. The Father says: You have recognised the Father and so you have to follow shrimat. Remember the one Father. Consider yourself to be a soul! I now have to return home and so I have to shed this body. Use the rest of your time for doing service. You children are very poor and this is why the Father feels mercy. He doesn’t give any difficulty to you old mothers and the hunchbacked. Those who are old are called hunchbacked. It is explained to the old mothers: Remember the Father! When someone asks you where you are going, tell him that you are going to a Gita Pathshala. The Krishna soul takes 84 births and is now here taking knowledge from the Father. Some children spend so much on exhibitions etc. They even write that so-and-so was very impressed, but Baba says: None of them writes to say that the unlimited Father truly has come into the body of Brahma at this time and that it is only from Him that you can receive the inheritance of heaven. Baba then understands that not a single one has had that faith. They simply become impressed that this knowledge is very good and you have explained the picture of the ladder very well, but they themselves don’t stay in yoga and become satopradhan from tamopradhan. They simply say that the explanation you give of receiving the inheritance from God is very good, but they themselves don’t want to receive it. They don’t make any effort at all. Many subjects will be created, but it takes effort to become a king. Each of you can ask your own heart: To what extent do I stay in remembrance of the Father and remain cheerful? We are once again becoming deities. Sit in solitude and talk to yourself. Try this for yourself. Continue to remember the Father because He guarantees that you will never cry for half the cycle. You now say Baba comes and enables you to conquer Maya, Ravan. Whatever effort each of you makes, you do it for yourself. You will then go to the new world. Since you have to become satopradhan from tamopradhan, the karmic accounts of the old world have to be settled. He also shows you the way to become pure. This is the time of settlement and everything has to be destroyed. The new world is to be established. You know that you will shed your bodies in the land of death and then go to the new world of immortality. We are studying for the new world. There is no other study place like this one where they teach for the future. Yes, those who donate a lot and perform a lot of charity take birth to a king. There is a saying: “A golden spoon in the mouth.” You receive that in the golden age. Even in the iron age, those who take birth to kings also receive it. Nevertheless, there are many types of sorrow here. You will not have any sorrow for your future 21 births. You will never fall ill. You will have a golden spoon in heaven. Here, people have a kingdom for a temporary period. You receive it for 21 births. You have to use your intellects very well about all of these things and then explain them to others. It isn’t that you can’t become kings on the path of devotion. When someone builds a college or a hospital, he receives the return of that. If he opens a hospital, he receives good health in his next birth. They say: Throughout his whole life, this one hasn’t even had a fever. They have long lifespans. When someone has donated a lot and opened a hospital etc. his lifespan increases. Here, you become ever healthy and wealthy by having yoga; by having yoga you receive good health for 21 births. This is a very big hospital and a big college. The Father explains everything very clearly. The Father says: Any of you can go and study wherever your heart likes and at whatever centre you enjoy. No one should say: You should only come to our centre. Why are you going to that centre? No; any of you can go to any centre you want. It is the same thing; it is the same murli that is read everywhere. This murli is sent from here (Madhuban) and then some read it very well with explanation, whereas others simply read it straight. Those who give lectures issue very good challenges. Wherever there is a lecture, first of all, tell them: Shiv Baba says: Consider yourselves to be souls and remember Me, your Father, and your sins will be absolved and you will become pure and the masters of the pure world. He explains to you so easily! Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Let go of wasteful thoughts of external things. Sit in solitude and make effort to remember the Father. Wake up early in the morning and churn the ocean of knowledge and also look at your chart.
  2. Just as donations and charity are important on the path of devotion, so remembrance is important on the path of knowledge. Make your soul ever healthy and wealthy with remembrance. Practise remaining bodiless.
Blessing: May you be master knowledge-full and donate jewels of knowledge with your words.
Those who donate jewels of knowledge with their words receive the blessing of being master knowledge-full. Each and every word of theirs is very valuable. Many souls are thirsty to listen to every word of theirs. Every word of theirs is full of sense and they have special happiness. Their treasure stores are overflowing and this is why they are always content and cheerful. Their words are impressive. By donating words, you develop many virtues in your speech.
Slogan: Become a self-sovereign and you will claim a right to the full inheritance.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 21 JUNE 2021 : AAJ KI MURLI

21-06-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – पावन बनने का एकमात्र उपाय है – बाप की याद, याद की मेहनत ही अन्त में काम आयेगी”
प्रश्नः- संगम पर कौन सा तिलक दो तो स्वर्ग की राजाई का तिलक मिल जायेगा?
उत्तर:- संगम पर यही तिलक दो कि हम आत्मा बिन्दी हैं, हम शरीर नहीं। अन्दर में यही घोटते रहो कि हम आत्मा हैं, हमें बाप से वर्सा लेना है। बाबा भी बिन्दी है, हम भी बिन्दी हैं। इस तिलक से स्वर्ग की राजाई का तिलक प्राप्त होगा। बाबा कहते हैं मैं गैरन्टी करता हूँ – तुम याद करो तो आधाकल्प के लिए रोने से छूट जायेंगे।

ओम् शान्ति। यह फुरना चाहिए कि मुझ आत्मा को बाप को जरूर याद करना है तब पावन बन सकते हैं। मेहनत जो कुछ है, वह यही है, जो मेहनत बच्चों से पहुँचती नहीं है। माया बहुत हैरान करती है। एक बाप की याद भुला देती है, दूसरे की याद आ जाती है। बाप अथवा साजन को याद नहीं करते हैं। ऐसे साजन को तो कम से कम 8 घण्टा याद करने की सर्विस देनी है अर्थात् साजन को मदद देनी है – याद करने की। अथवा बच्चों को बाप को याद करना चाहिए – यह है बहुत बड़ी मेहनत। गीता में भी है मनमनाभव। बाप को याद करते रहो। उठते-बैठते, चलते-फिरते एक बाप को ही याद करते रहो और कुछ नहीं। पिछाड़ी को यह याद ही काम आयेगी। अपने को आत्मा अशरीरी समझो, अब हमको वापिस जाना है। यह मेहनत बहुत करनी है। सवेरे स्नान आदि करके फिर एकान्त में ऊपर छत पर वा हाल में आकर बैठ जाओ। जितना एकान्त हो उतना अच्छा है। हमेशा यही ख्याल करो कि हमको बाप को याद करना है। बाप से पूरा वर्सा लेना है। यह मेहनत हर 5 हजार वर्ष बाद तुमको करनी पड़ती है। सतयुग, त्रेता, द्वापर, कलियुग – कहाँ भी तुमको यह मेहनत नहीं करनी पड़ेगी। इस संगम पर ही तुमको बाप कहते हैं कि मुझे याद करो, बस। यही वेला है जब बाप कहते हैं मुझे याद करो। बाप आते भी संगम पर हैं और कभी बाप आते ही नहीं। तुम भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार जानते हो। बहुत बच्चे बाप को भूल जाते हैं इसलिए बहुत धोखा खाते हैं, रावण बहुत धोखेबाज है। आधाकल्प का यही दुश्मन है इसलिए बाप कहते हैं रोज़ सवेरे उठकर यह विचार सागर मंथन करो और यही चार्ट रखो – कितना समय हमने बाप को याद किया! कितनी जंक उतरी होगी! सारा मदार याद के ऊपर है। बच्चों को पूरी कोशिश करनी है, अपना पूरा वर्सा पाने लिए। नर से नारायण बनना है। यह है सच्ची सत्य नारायण की कथा। भक्त लोग पूर्णमासी के दिन सत्य नारायण की कथा करते हैं। अभी तुम जानते हो 16 कला सम्पूर्ण बनना है। वह बनेंगे सत्य बाप को याद करने से। बाप है श्रीमत देने वाला। बाप कहते हैं गृहस्थ में रहो, धन्धा-धोरी आदि कुछ भी करो। बाप को याद जरूर करना है और पावन बनना है। बस। याद नहीं करेंगे तो रावण से कहाँ न कहाँ धोखा खाते रहेंगे इसलिए मूल बात समझाते हैं याद की। शिवबाबा को याद करना है। देह सहित देह के जो भी सम्बन्धी हैं उनको भूल अपने को आत्मा निश्चय करो। बाप बार-बार समझाते हैं – अपने को आत्मा समझ बाप को याद करना है। नहीं तो फिर अन्त में बहुत-बहुत पछतायेंगे। बहुत धोखा खायेंगे। कोई ऐसा जोर से थप्पड़ लगेगा जो माया एकदम काला मुँह करा देगी। बाप आये हैं गोरा मुँह बनाने। इस समय सब एक दो का काला मुँह करते रहते हैं। गोरा बनाने वाला एक ही बाप है, जिसकी याद से तुम गोरे स्वर्ग के मालिक बनेंगे। यह है ही पतित दुनिया। बाप आते ही हैं पतितों को पावन बनाने। बाकी तुम्हारे धन्धे-धोरी आदि से बाबा का कोई सम्बन्ध नहीं है। शरीर निर्वाह अर्थ तुमको जो करना है सो करो। बाप तो सिर्फ कहते हैं मनमनाभव। तुम कहते भी हो हम कैसे पावन दुनिया का मालिक बनें। बाप कहते हैं सिर्फ मुझे याद करो। बस। और कोई उपाय पावन बनने का है नहीं। कितना भी दान-पुण्य आदि करें, कितनी भी मेहनत करें। चाहे आग से आते जाते रहें, कुछ भी काम नहीं आ सकता – सिवाए एक बाप की याद के। बहुत सिम्पल बात है, इसको कहा जाता है – सहज योग। अपने से पूछो हम अपने मीठे-मीठे बाप को सारे दिन में कितना याद करते हैं! नींद में तो कोई पाप नहीं होते हैं। अशरीरी हो जाते हैं। बाकी दिन में बहुत पाप होते रहते हैं और पुराने पाप भी बहुत हैं। मेहनत करनी है याद की। यहाँ आते हो तो यह मेहनत करनी है। बाहर के वाह्यात संकल्पों को उड़ा दो। नहीं तो वायुमण्डल बड़ा खराब कर देते हैं। घर के, खेती-बाड़ी के ख्यालात चलते रहते हैं। कभी बच्चे याद पड़ेंगे, कभी गुरू की याद आयेगी। संकल्प चलते रहेंगे तो वायुमण्डल को खराब कर देंगे। मेहनत नहीं करने वाले विघ्न डालते हैं। यह इतनी महीन बातें हैं। तुम भी अभी जानते हो – फिर कभी नहीं जानेंगे। बाप अभी ही वर्सा देते हैं फिर आधाकल्प के लिए निश्चिंत हो जाते हैं। लौकिक बाप के फुरने (ख्यालात) और बेहद बाप के फुरने में कितना अन्तर है। बाप कहते हैं कि भक्ति मार्ग में मुझे कितना फुरना रहता है। भगत कितना घड़ी-घड़ी याद करते हैं। सतयुग में कोई भी याद नहीं करते। बाप कहते हैं कि तुमको इतना सुख देता हूँ जो तुमको मुझे वहाँ याद करने की दरकार ही नहीं रहेगी। हम जानते हैं हमारे बच्चे सुखधाम, शान्तिधाम में बैठे हैं। दूसरा कोई मनुष्य समझ न सके। ऐसे बाप में निश्चयबुद्धि होने में माया विघ्न डालती है। बाप कहते हैं कि सिर्फ मुझे याद करो तो तुम्हारे में जो अलाए पड़ गई है, चांदी, तांबा, लोहा…वह निकल जायेगी। गोल्डन एज से सिलवर में आने से भी दो कला कम होती हैं। यह बातें तुम सुनते और समझते हो। जो सच्चा ब्राह्मण होगा उनको अच्छी रीति बुद्धि में बैठेगा, नहीं तो बैठेगा नहीं। याद टिकेगी नहीं। सारा मदार बाप को याद करने पर है। बार-बार कहते हैं बच्चे बाप को याद करो। यह बाबा भी कहेंगे शिवबाबा को याद करो। शिवबाबा खुद भी कहेंगे मुझ बाप को याद करो। आत्माओं को कहते हैं हे बच्चों। वह निराकार परमात्मा भी आत्माओं को कहेंगे। मूल बात ही यह है। कोई भी आये तो उनको पहले-पहले बोलो कि अल्फ को याद करो और कोई तीक-तीक नहीं करनी है। सिर्फ बोलो – अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। यही अन्दर घोटना है। हम आत्मा हैं, गाते भी हैं ना तुलसीदास चंदन घिसे, तिलक देत रघुवीर…तिलक कोई स्थूल थोड़ेही है। तुम समझते हो कि तिलक वास्तव में इस समय का यादगार है। तुम याद करते रहते हो गोया राजाई का तिलक देते हो। तुमको राजाई का तिलक मिलेगा, डबल सिरताज बनेंगे। राजाई का तिलक मिलेगा अर्थात् स्वर्ग के महाराजा, महारानी बनेंगे। बाप कितना सहज बताते हैं। बस सिर्फ यह याद करो – हम आत्मा हैं, शरीर नहीं। हमको बाप से वर्सा लेना है।

तुम जानते हो हम आत्मा बिन्दी मिसल हैं, बाबा भी बिन्दी है। बाबा ज्ञान का सागर, सुख का सागर है। वह हमको वरदान देते हैं। इनके बाजू में आकर बैठते हैं। गुरू अपने शिष्य को बाजू में बिठाए सिखाते हैं। यह भी बाजू में बैठे हैं। बच्चों को सिर्फ कहते हैं अपने को आत्मा समझो, मामेकम् याद करो। सतयुग में भी तुम अपने को आत्मा समझते हो, परन्तु बाप को नहीं जानते हो। हम आत्मा शरीर छोड़ते हैं फिर दूसरा लेना है। ड्रामा अनुसार तुम्हारा पार्ट ही ऐसा है इसलिए तुम्हारी आयु वहाँ बड़ी रहती है, पवित्र रहते हो। सतयुग में आयु बड़ी रहती है, कलियुग में छोटी हो जाती है। वहाँ हैं योगी, यहाँ हैं भोगी। पवित्र होते हैं योगी। वहाँ रावण राज्य ही नहीं है। आयु बड़ी रहती है। यहाँ आयु कितनी छोटी होती है, इसको कर्म भोग कहा जाता है। वहाँ अकाले मृत्यु कभी होता नहीं। तो बाप कहते हैं कि बाप को पहचाना है तो श्रीमत पर चलो। एक बाप को याद करो। अपने को आत्मा समझो। हमको अब जाना है, यह शरीर छोड़ना है। बाकी टाइम सर्विस में लगाना है।

तुम बच्चे बहुत गरीब हो इसलिए बाप को तरस पड़ता है। तुम बुढ़ियों, कुब्जाओं आदि को कोई तकलीफ नहीं देते हैं। बुढ़ी को कुब्जा कहा जाता है। बुढ़ियों को समझाया जाता है – बाप को याद करो। तुमसे कोई पूछे कहाँ जाती हो? बोलो, गीता पाठशाला में जाते हैं। यहाँ तो वह कृष्ण की आत्मा 84 जन्म ले अभी बाप से ज्ञान ले रही है।

बच्चे प्रदर्शनी आदि पर कितना खर्चा करते हैं, लिखते भी हैं फलाना अच्छा प्रभावित हुआ। परन्तु बाबा कहते हैं एक भी ऐसे नहीं लिखता कि बरोबर इस समय बेहद का बाप इस ब्रह्मा तन में आया हुआ है, उससे ही स्वर्ग का वर्सा मिल सकता है। बाबा समझ जाते हैं कि एक को भी निश्चय नहीं हुआ है। सिर्फ प्रभावित होते हैं, यह ज्ञान बहुत अच्छा है। सीढ़ी ठीक रीति से दिखाई है। परन्तु खुद योग में रह तमोप्रधान से सतोप्रधान बनें, वह नहीं करते। सिर्फ कहते हैं – समझानी बहुत अच्छी है, परमात्मा से वर्सा पाने की। परन्तु खुद पायें, वह नहीं। कुछ भी पुरुषार्थ नहीं करते हैं, प्रजा ढेर बनेगी। बाकी राजा बनें वह मेहनत है। हर एक अपनी दिल से पूछे कि हम कहाँ तक बाप की याद में हर्षित रहते हैं? हम फिर से सो देवता बनते हैं। ऐसे-ऐसे अपने साथ एकान्त में बैठ बातें करो, ट्राई करके देखो। बाप को याद करते रहो तो बाप गैरन्टी देते हैं – तुम आधाकल्प कभी रोयेंगे नहीं। अभी तुम कहते हो बाबा आकर हमको रावण माया पर जीत पहनाते हैं। जो जितनी मेहनत करते हैं, अपने लिए ही करते हैं। फिर तुम आयेंगे नई दुनिया में। पुरानी दुनिया का हिसाब-किताब भी चुक्तू करना है जबकि तुमको तमोप्रधान से सतोप्रधान बनना है। पावन बनने की युक्ति भी बताते हैं। यह है कयामत का समय, सबका विनाश होना है। नई दुनिया की स्थापना होनी है। तुम जानते हो हम इस मृत्युलोक में यह शरीर छोड़ फिर नई दुनिया अमरलोक में आयेंगे। हम पढ़ते ही हैं नई दुनिया के लिए और कोई ऐसी पाठशाला नहीं, जहाँ भविष्य के लिए पढ़ाते हो। हाँ, जो बहुत दान-पुण्य करते हैं तो राजा के पास जन्म लेते हैं। गोल्डन स्पून इन माउथ कहा जाता है। सतयुग में तुमको मिलता है, कलियुग में भी जो राजाओं के पास जन्म लेते हैं उनको भी मिलता है फिर भी यहाँ तो अनेक प्रकार के दु:ख रहते हैं। तुमको तो भविष्य 21 जन्म के लिए कोई दु:ख नहीं होगा। कभी बीमार नहीं पड़ेंगे, गोल्डन स्पून इन स्वर्ग। यहाँ है अल्पकाल के लिए राजाई। तुम्हारी है 21 जन्म के लिए। बुद्धि से अच्छी रीति काम लेना है, फिर समझाना है। ऐसे नहीं कि भक्ति मार्ग में राजा नहीं बन सकते हैं। कोई कॉलेज अथवा हॉस्पिटल बनाते हैं तो उनको भी एवजा मिलता है। हॉस्पिटल बनाते हैं तो दूसरे जन्म में अच्छी तन्दरूस्ती रहेगी। कहते हैं ना – इनको सारी आयु में बुखार भी नहीं हुआ। बड़ी आयु होती है। बहुत दान आदि किया है, हॉस्पिटल आदि बनाते हैं तब आयु बढ़ती है। यहाँ तो योग से तुम एवरहेल्दी-वेल्दी बनते हो। योग से तुम 21 जन्म के लिए शफा पाते हो। यह तो बहुत बड़ी हॉस्पिटल, बहुत बड़ी कॉलेज है। बाप हर बात अच्छी रीति समझाते हैं। बाप कहते हैं जिसको जहाँ मज़ा आये, जहाँ दिल लगे, वहाँ जाकर पढ़ाई पढ़ सकते हैं। ऐसे नहीं कि हमारे सेन्टर पर आयें, इनके पास क्यों जाते हैं। नहीं, जिसको जहाँ चाहिए वहाँ जाये। बात तो एक ही है। मुरली तो पढ़कर सुनाते हैं। वह मुरली यहाँ से जाती है फिर कोई विस्तार से अच्छा समझाते हैं, कोई सिर्फ पढ़कर सुनाते हैं। भाषण करने वाले अच्छी ललकार करते होंगे। कहाँ भी भाषण हो – पहले-पहले बताओ शिवबाबा कहते हैं अपने को आत्मा समझ मुझ बाप को याद करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे और पावन बन पावन दुनिया का मालिक बनेंगे। कितना सहज समझाते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाहर के वाह्यात (व्यर्थ) ख्यालातों को छोड़ एकान्त में बैठ याद की मेहनत करनी है। सवेरे-सवेरे उठकर विचार सागर मंथन करना और अपना चार्ट देखना है।

2) जैसे भक्ति में दान-पुण्य का महत्व है, ऐसे ज्ञान मार्ग में याद का महत्व है। याद से आत्मा को एवरहेल्दी-वेल्दी बनाना है। अशरीरी रहने का अभ्यास करना है।

वरदान:- वाचा द्वारा ज्ञान रत्नों का दान करने वाले मास्टर नॉलेजफुल भव
जो वाचा द्वारा ज्ञान रत्नों का दान करते हैं उन्हें मास्टर नॉलेजफुल का वरदान प्राप्त होता है। उनके एक-एक शब्द की बहुत वैल्यु होती है। उनका एक-एक वचन सुनने के लिए अनेक आत्मायें प्यासी होती हैं। उनके हर शब्द में सेन्स (सार) भरा होता है। उन्हें विशेष खुशी की प्राप्ति होती है। उनके पास खजाना भरपूर रहता है इसलिए वे सदा सन्तुष्ट और हर्षित रहते हैं। उनके बोल प्रभावशाली होते जाते हैं। वाणी का दान करने से वाणी में बहुत गुण आ जाते हैं।
स्लोगन:- स्वराज्य के मालिक बनो तो सम्पूर्ण वर्से का अधिकार मिल जायेगा।

TODAY MURLI 21 JUNE 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 21 June 2020

21/06/20
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
16/02/86

Golden thoughts for the Golden Jubilee

Today, BapDada, the Bestower of Fortune, is seeing all the multimillion times fortunate children everywhere. He is pleased to see a star of fortune sparkling on the forehead of each child. Throughout the whole cycle, there could not be any father who has so many children who are all fortunate. Although you are fortunate, numberwise, even the last number, fortunate child is much more elevated in comparison to the most elevated fortune of the world today. This is why unlimited BapDada is proud of the fortune of all the children. BapDada also continually sings the song: Wah My fortunate children! Wah My children who remain constantly lost in the love of One! Wah! Today, BapDada has especially come to congratulate all of you children on your specialities of both love and courage.

Each one of you has shown the return of love in service, according to your capacity. You have demonstrated courage practically with your one deep desire to reveal the one Father. You have completed your own tasks with zeal and enthusiasm. BapDada is pleased with the work you have done and is giving congratulations. To all the children from this land and abroad, those who have personally come here and also those who are sitting far away, who have been co-operating in service with their elevated thoughts from their hearts, BapDada is giving the blessing: “May you always be successful. May you accomplish every task. May you always be a practical example”. BapDada heard everyone’s promise filled with pure zeal and enthusiasm for self-transformation and for moving even further forward in service. You were told before that BapDada has an even more powerful and unique TV than the ones you have in your corporeal world. You can only see the acts performed by bodies. BapDada can even see the thoughts in your mind. Whatever part each one of you played, BapDada heard and saw everything, including your thoughts, the speed and condition of your minds and the speed and condition of your bodies. What would He have seen? Today, Baba has come to give congratulations and so He will not say any more. BapDada and all the children, who are service companions, applauded a lot because of one thing in particular. They didn’t clap with their hands, but clapped in happiness, that the Father will be revealed right now through the service done by the whole gathering. Let the sound spread in the world right now. There was this one united thought filled with zeal and enthusiasm in everyone. Whether they were those who gave lectures, those who heard them or those who did physical work, everyone had this very good thought in the form of happiness. This was why there was a beautiful sparkle of happiness – the enthusiasm to reveal the Father brought a wave of happiness into the atmosphere everywhere. The majority took with them the experience of the prasad (holy offering) of happiness and selfless love. Therefore, BapDada was also pleased with the love of the children. Do you understand?

You have celebrated the Golden Jubilee, have you not? What will you celebrate in the future? Will you celebrate the Diamond Jubilee here or in your kingdom? Why did you celebrate the Golden Jubilee? You celebrated it to bring about the golden world. What elevated golden thoughts did you have from this Golden Jubilee? You gave many golden thoughts to others. You gave them very good thoughts. What special golden thought did you have for yourself, so that through the whole year, every thought and moment of yours will be golden? People simply say, “Golden morning, golden night, or golden evening.” However, let every second of you most elevated souls be golden. Let these be golden seconds, not just golden morningsor golden nights. Let there be the golden world and the sweet home of the golden light in both your eyes at every moment. That is the golden light and the other is the golden world. Let there be this experience. Do you remember the picture you made in the beginning? Liberation in one eye and liberation-in-life in the other eye. To give this experience is a golden thought for the Golden Jubilee. Have all of you had such a thought, or are you just happy to see that scene? The Golden Jubilee is of this elevated task. All of you instruments for the task are also companions in the task. You are not those who just observe everything as detached observers; you are companions. It is the Golden Jubilee of the World University. Even if someone is a one-day-old student, it is also his Golden Jubilee. In fact, you arrived here when the Jubilee was prepared. These people here are the ones who made the effort to create it, whereas you arrived here at the time of celebrating it. So, BapDada is giving everyone congratulations for the Golden Jubilee. Do all of you feel this? You are not those who are just observers, are you? You are those who will become that or are you those who just observe? You have seen a lot in the world, but here, to see means to become that. To hear means to become that. So, what thought did you have? Let every second be golden. Let every thought be golden. Always continue to shower golden flowers of love and happiness on all souls. Even if someone is an enemy, a shower of love will change an enemy into a friend. Whether others give you regard or not, whether they accept you or not, always keep your self-respect and continue to give others soul-conscious regard with your loving vision and attitude. Whether they accept you or not, continue to consider them to be your sweet brothers and sweet sisters. Even if they don’t accept you, you can accept them, can you not? Let them throw stones, but you give them jewels. You mustn’t throw stones in return, because you are the children of the Father, who is the Jewel Merchant. You are masters of the mine of jewels. You are multi-multi-multimillionaires. You are not such beggars that you think you will only give when the other one gives. That is the sanskar of a beggar. Children of the Bestower never stretch out their hands to take anything. Even for your intellect to have such thoughts as, “I will only do it if the other one does it”, “I will give love if the other person gives love”, “I will give respect if the other one gives respect,” is also to stretch out your hand; it is royal begging. Only when you become altruistic yogis in this will the waves of happiness of the golden world reach the world. The power of science has created very powerful material to destroy the whole world, so that the whole task can be accomplished in a short time. The power of science is creating such refined things. Similarly, you, who have the power of knowledge, must create such a powerful attitude and atmosphere that waves of happiness, waves of the elevated future of the world, spread everywhere very quickly in a short time. Half the world is now half dead; they are sleeping on the death bed of fear. Give them the oxygen of the waves of happiness. Let this golden thought for the Golden Jubilee constantly emerge. Do you understand what you have to do? You now have to make your speed faster. What you have done so far has been very good. Now, for the future, continue to do the best. Achcha.

Double foreigners have a lot of enthusiasm. It is now the chance for double foreigners. Many have arrived here. Do you understand? Now give everyone the toli of happiness. There is Dilkhush toli, so distribute plenty of that. Achcha.

The servers are also dancing in happiness. Tiredness finishes when you dance. So, you showed everyone the dance of service and the dance of happiness. What did you do? You showed your dance, did you not? Achcha.

To all the most elevated, fortunate, special souls, to those who make every second and thought golden, to all the obedient children, to those who are always the children of the Bestower and fill the aprons of others, to the children who are full, to those who always become bestowers of fortune and bestowers of blessings and who enable everyone to attain liberation and liberation-in-life, to the children who are always overflowing, BapDada’s love, remembrance, congratulations and Namaste, filled with golden flowers of golden love and golden happiness.

BapDada meeting groups:

Do you always remember the Father and the inheritance? Remembrance of the Father automatically reminds you of your inheritance and, if you remember your inheritance, you automatically remember the Father. Both the Father and the inheritance are together. You remember the Father because of an inheritance. If you don’t have the attainment of an inheritance, why would you remember the Father? So, remembrance of the Father and the inheritance make you constantly overflow. You overflow with treasures and have come far away from pain and sorrow; there are the two benefits. You are far away from sorrow and you overflow with treasures. No one except the Father can enable you to have such permanent attainment. This awareness will make you constantly full and content. The Father is the Ocean and is always overflowing. No matter how much you try to dry up an ocean, an ocean will never end; an ocean is full. Similarly, you are also constantly full souls, are you not? If you become empty, you may have to stretch out your hands somewhere to receive something. However, souls who are overflowing always continue to swing in the swing of happiness and joy. So, have you become such elevated souls? You have to remain constantly full. Check to see to what extent you have used the treasures and powers you have received. Always continue to fly with wings of courage and enthusiasm and continue to enable others to fly. If you have courage, but no zeal or enthusiasm, there cannot be success. If you have enthusiasm, but no courage, then too, there is no success. If you have both together, then that is the flying stage. Therefore, always continue to fly with wings of courage and enthusiasm. Achcha.

Invaluable elevated versions selected from the Avyakt Murlis

Perform the dance of harmonising sanskars, for only then

will the rosary of victory of 108 jewels become ready.

Whenever you prepare a rosary, each bead is connected to the next bead. In the rosary of victory too, even the 108th bead is connected to the other beads. Therefore, let everyone feel that they are like beads threaded in a rosary. Whilst having a variety of sanskars, let closeness be visible.

To know the sanskars of one another, to remain in harmony with one another whilst giving love to one another, is the speciality of the beads of a rosary. However, you can only have love for one another when you harmonise your sanskars and thoughts with one another. For this, imbibe the virtue of easiness and lightness.

As yet, your stage is based on praise. There is a desire for some fruit of whatever acts you perform. If you don’t receive praise, you don’t have that stage either. When there is defamation, you forget the Lord and Master and become orphans and then a conflict of sanskars begins. These two things take you out of the rosary. Therefore, create a stage of equanimity in praise and defamation.

In order to harmonise sanskars, don’t become a child when you need to become a master and don’t become a master when you need to be a child. A child means to be free from wasteful thoughts. Simply follow whatever directions you receive. Give advice as a master and then become a child and you will be saved from conflict.

The basis of success in service is humility. The more humility there is, the more success there is. Humility comes from considering yourself to be an instrument. Everyone bows down to the virtue of humility. Everyone bows down to those who bow down themselves. Therefore, move along whilst considering your body to be an instrument and consider yourself to be an instrument for service and you will develop humility. Where there is humility, there cannot be conflict. There will naturally be harmony of sanskars.

There has to be honesty and cleanliness in the thoughts that are created in your mind. Let there be no rubbish of any vice within. Let there be no rubbish of any conflict of nature or old sanskars within. Those who have such cleanliness will be honest and those who are honest will be loved by everyone. Become loved by all and the dance of harmonising of sanskars will take place. The Lord is pleased with those who are honest.

In order to perform the dance of harmonising sanskars, make your nature easy and active. Easy means: let there be no heaviness in your efforts or sanskars. If you are easy, you are active. By remaining easy, all your tasks become easy and your efforts also become easy. If you don’t remain easy yourself, you will have to face difficulties. You will then see your sanskars and weaknesses as a difficulty.

The dance of harmonising sanskars can take place when you see each one’s specialities and you become full of specialities by considering yourself to be a special soul. The words, “This is my sanskar” must end. Finish these words to such an extent that even your nature changes. When each one’s nature changes, your features will become angelic.

BapDada is teaching you children the study to make you into world emperors. Those who are going to become world emperors will be loving to all. Just as the Father is loving to all and everyone loves Him, in the same way, let flowers of love shower from each one of you for all souls. When flowers of love are showered here, they will also be showered on the non-living images. Therefore, aim to become worthy of being showered with flowers of love from everyone. You will receive love by giving your co-operation.

Always have the aim that no one should become upset by your behaviour. Let your behaviour, thoughts, words and every act give happiness. This is the system of the Brahmin clan. Adopt this system and the dance of harmonising sanskars will take place.

Blessing: May you be a charitable soul with the sanskar of Godly royalty and speak of each one’s specialities.
Always create every thought and perform every act while considering yourself to be a special soul. See and speak of the specialities of each one, always have benevolent wishes to make each one special. This is Godly royaltyRoyal souls cannot imbibe things that others have discarded. Therefore, constantly pay attention that your eyes are closed to seeing anyone’s weaknesses or defects. Sing songs of each other’s praise, exchange flowers of love and co-operation with each other and you will become charitable souls.
Slogan: : The power of a blessing can transform any fire of a situation into water.

 

*** Om Shanti ***

Notice: Today is the third Sunday World Meditation Day, so from 6.30 pm – 7.30 pm, all brothers and sisters collectively to have yoga and experience: I, the most elevated, full with all God’s powers, a Raja Yogi soul, a conqueror of the physical senses and a conqueror of sins, am seated on my throne in the centre of my forehead. Maintain the self-respect throughout the day: I am a most elevated, great soul who plays a hero part in the whole cycle.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 21 JUNE 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 21 June 2020

Murli Pdf for Print : – 

21-06-20
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 16-02-86 मधुबन

गोल्डन जुबली का गोल्डन संकल्प

आज भाग्य विधाता बाप अपने चारों ओर के पदमापदम भाग्यवान बच्चों को देख रहे हैं। हर एक बच्चे के मस्तक पर भाग्य का चमकता हुआ सितारा देख हर्षित हो रहे हैं। सारे कल्प में ऐसा कोई बाप हो नहीं सकता जिसके इतने सभी बच्चे भाग्यवान हों। नम्बरवार भाग्यवान होते हुए भी दुनिया के आजकल के श्रेष्ठ भाग्य के आगे लास्ट नम्बर भाग्यवान बच्चा भी अति श्रेष्ठ है इसलिए बेहद के बापदादा को सभी बच्चों के भाग्य पर नाज़ है। बापदादा भी सदा वाह मेंरे भाग्यवान बच्चे, वाह एक लगन में मगन रहने वाले बच्चे- यही गीत गाते रहते हैं। बापदादा आज विशेष सर्व बच्चों के स्नेह और साहस दोनों विशेषताओं की मुबारक देने आये हैं।

हर एक ने यथा योग्य स्नेह का रिटर्न सेवा मे दिखाया। एक लगन से एक बाप को प्रत्यक्ष करने की हिम्मत प्रत्यक्ष रुप मे दिखाई। अपना-अपना कार्य उमंग उत्साह से सम्पन्न किया। यह कार्य के खुशी की मुबारक बापदादा दे रहे हैं। देश-विदेश के सम्मुख आने वाले वा दूर बैठे भी अपने दिल के श्रेष्ठ संकल्प द्वारा वा सेवा द्वारा सहयोगी बने हैं, तो सभी बच्चों को बापदादा सदा सफलता भव, सदा हर कार्य में सम्पन्न भव, सदा प्रत्यक्ष प्रमाण भव का वरदान दे रहे हैं। सभी के स्व परिवर्तन की, सेवा में और भी आगे बढ़ने की, शुभ उमंग-उत्साह की प्रतिज्ञायें बापदादा ने सुनी। सुनाया था ना – बापदादा के पास आपकी साकार दुनिया से न्यारी शक्तिशाली टी.वी. है। आप सिर्फ शरीर के एक्ट को देख सकते हो। बापदादा मन के संकल्प को भी देख सकते हैं। जो भी हर एक ने पार्ट बजाया वह सब संकल्प सहित, मन की गति-विधि और तन की गति-विधि दोनों ही देखी, सुनी। क्या देखा होगा? आज तो मुबारक देने आये हैं इसलिए और बातें आज नहीं सुनायेंगे। बापदादा और साथ में सभी आपके सेवा के साथी बच्चों ने एक बात पर बहुत खुशी की तालियां बजाई, हाथ की तालियां नहीं, खुशी की तालियां बजाई, सारे संगठन में सेवा द्वारा अभी-अभी बाप को प्रत्यक्ष कर लें, अभी-अभी विश्व में आवाज फैल जाए… यह एक उमंग और उत्साह का संकल्प सभी में एक था। चाहे भाषण करने वाले, चाहे सुनने वाले, चाहे कोई भी स्थूल कार्य करने वाले, सभी में यह संकल्प खुशी के रूप में अच्छा रहा इसलिए चारों ओर खुशी की रौनक, प्रत्यक्ष करने का उमंग, वातावरण को खुशी की लहर में लाने वाला रहा। मैजॉरटी खुशी और नि:स्वार्थ स्नेह यह अनुभव का प्रसाद ले गये इसलिए बापदादा भी बच्चों की खुशी में खुश हो रहे थे। समझा।

गोल्डन जुबली भी मना ली ना! अभी आगे क्या मनायेंगे? डायमण्ड जुबली यहाँ ही मनायेंगे या अपने राज्य में मनायेंगे? गोल्डन जुबली किसलिए मनाई? गोल्डन दुनिया लाने के लिए मनाई ना। इस गोल्डन जुबली से क्या श्रेष्ठ गोल्डन संकल्प किया? दूसरों को तो गोल्डन थाट्स बहुत सुनाये। अच्छे-अच्छे सुनाये। अपने प्रति कौन-सा विशेष सुनहरी संकल्प किया? जो पूरा वर्ष हर संकल्प, हर घड़ी गोल्डन हो। लोग तो सिर्फ गोल्डन मार्निंग या गोल्डन नाइट कह देते या गोल्डन ईवनिंग कहते हैं। लेकिन आप सर्वश्रेष्ठ आत्माओं की हर सेकेण्ड गोल्डन हो। गोल्डन सेकण्ड हो, सिर्फ गोल्डन मार्निंग या गोल्डन नाइट नहीं। हर समय आपके दोनों नयनों में गोल्डन दुनिया और गोल्डन लाइट का स्वीट होम हो। वह गोल्डन लाइट है, वह गोल्डन दुनिया है। ऐसे ही अनुभव हो। याद है ना – शुरू-शुरू में एक चित्र बनाते थे। एक आंख में मुक्ति, दूसरी आंख में जीवनमुक्ति। यह अनुभव कराना, यही गोल्डन जुबली का गोल्डन संकल्प है। ऐसा संकल्प सभी ने किया या सिर्फ दृश्य देख-देखकर खुश होते रहे। गोल्डन जुबली इस श्रेष्ठ कार्य की है। कार्य के निमित्त आप सभी भी कार्य के साथी हो। सिर्फ साक्षी हो देखने वाले नहीं, साथी हो। विश्व विद्यालय की गोल्डन जुबली है। चाहे एक दिन का भी विद्यार्थी हो। उसकी भी गोल्डन जुबली है। और ही बनी बनाई जुबली पर पहुंचे हो। बनाने की मेहनत इन्होंने की और मनाने के समय आप सब पहुंच गये। तो सभी को गोल्डन जुबली की बापदादा भी बधाई देते हैं। सभी ऐसे समझते हो ना! देखने वाले तो सिर्फ नहीं हो ना! बनने वाले हैं या देखने वाले! देखा तो दुनिया में बहुत कुछ है लेकिन यहाँ देखना अर्थात् बनना। सुनना अर्थात् बनना। तो क्या संकल्प किया? हर सेकेण्ड गोल्डन हो। हर संकल्प गोल्डन हो। सदा हर आत्मा के प्रति स्नेह के खुशी के सुनहरी पुष्प की वर्षा करते रहो। चाहे दुश्मन भी हो लेकिन स्नेह की वर्षा दुश्मन को भी दोस्त बना देगी। चाहे कोई आपको मान दे वा माने न माने। लेकिन आप सदा स्वमान में रह औरों को स्नेही दृष्टि से, स्नेही वृत्ति से आत्मिक मान देते चलो। वह माने न माने आपको लेकिन आप उसको मीठा भाई, मीठी बहन मानते चलो। वह नहीं माने आप तो मान सकते हो ना। वह पत्थर फेंके आप रत्न दो। आप भी पत्थर न फेंको क्योंकि आप रत्नागर बाप के बच्चे हो। रत्नों की खान के मालिक हो। मल्टी-मल्टी-मल्टीमिल्युनियर हो। भिखारी नहीं हो – जो सोचो कि वह दे तब दूँ। यह भिखारी के संस्कार हैं। दाता के बच्चे कभी लेने का हाथ नहीं फैलाते। बुद्धि से भी यह संकल्प करना कि यह करे तो मैं करूं, यह स्नेह दे तो मैं दूं। यह मान देवे तो मैं दूँ। यह भी हाथ फैलाना है। यह भी रॉयल भिखारीपन है, इसमें निष्काम योगी बनो, तब ही गोल्डन दुनिया के खुशी की लहर विश्व तक पहुंचेगी। जैसे विज्ञान की शक्ति ने सारे विश्व को समाप्त करने की सामग्री बहुत शक्तिशाली बनाई है, जो थोड़े समय में कार्य समाप्त हो जाए। विज्ञान की शक्ति ऐसे रिफाइन वस्तु बना रही है। आप ज्ञान की शक्ति वाले ऐसे शक्तिशाली वृत्ति और वायुमण्डल बनाओ जो थोड़े समय में चारों ओर खुशी की लहर, सृष्टि के श्रेष्ठ भविष्य की लहर, बहुत जल्दी से जल्दी फैल जाए। आधी दुनिया अभी आधा मरी हुई है। भय के मौत की शैय्या पर सोई हुई है। उसको खुशी की लहर का आक्सीज़न दो। यही गोल्डन जुबली का गोल्डन संकल्प सदा इमर्ज रूप में रहे। समझा – क्या करना है। अभी और गति को तीव्र बनाना है। अब तक जो किया वह भी बहुत अच्छा किया। अभी आगे और भी अच्छे ते अच्छा करते चलो। अच्छा।

डबल विदेशियों को बहुत उमंग है। अभी है तो डबल विदेशियों का चांस। पहुंच भी गये हैं बहुत। समझा! अभी सभी को खुशी की टोली खिलाओ। दिल खुश मिठाई होती है ना! तो खूब दिलखुश मिठाई बांटो। अच्छा – सेवा-धारी भी खुशी में नाच रहे हैं ना! नाचने से थकावट खत्म हो जाती है। तो सेवा की या खुशी की डांस सभी को दिखाई? क्या किया? डांस दिखाई ना! अच्छा!

सर्वश्रेष्ठ भाग्यवान, विशेष आत्माओं को, हर सेकेण्ड, हर संकल्प सुनहरी बनाने वाले सभी आज्ञाकारी बच्चों को, सदा दाता के बच्चे बन सर्व की झोली भरने वाले, सम्पन्न बच्चों को, सदा विधाता और वरदाता बन सर्व को मुक्ति वा जीवनमुक्ति की प्राप्ति कराने वाले सदा भरपूर बच्चों को बापदादा का सुनहरी स्नेह के सुनहरी खुशी के पुष्पों सहित यादप्यार बधाई और नमस्ते।

पार्टियों से:- सदा बाप और वर्सा दोनों याद रहता है? बाप की याद स्वत: ही वर्से की भी याद दिलाती है और वर्सा याद है तो बाप की स्वत: याद है। बाप और वर्सा दोनों साथ-साथ हैं। बाप को याद करते हैं वर्से के लिए। अगर वर्से की प्राप्ति न हो तो बाप को भी याद क्यों करे। तो बाप और वर्सा यही याद सदा ही भरपूर बनाती है। खजानों से भरपूर और दु:ख दर्द से दूर। दोनों ही फायदा है। दु:ख से दूर हो जाते और खजानों से भरपूर हो जाते। ऐसी प्राप्ति सदाकाल की, बाप के बिना और कोई करा नहीं सकता। यही स्मृति सदा सन्तुष्ट, सम्पन्न बनायेगी। जैसे बाप सागर है, सदा भरपूर है। कितना भी सागर को सुखायें फिर भी सागर समाप्त होने वाला नहीं। सागर सम्पन्न है। तो आप सभी सदा सम्पन्न आत्मायें हो ना। खाली होंगे तो कहाँ लेने के लिए हाथ फैलाना पड़ेगा। लेकिन भरपूर आत्मा सदा ही खुशी के झूले में झूलती रहती है, सुख के झूले में झूलती रहती है। तो ऐसी श्रेष्ठ आत्मायें बन गये। सदा सम्पन्न रहना ही है। चेक करो मिली हुए शक्तियों के खजाने को कहाँ तक कार्य में लगाया है?

सदा हिम्मत और उमंग के पंखों से उड़ते रहो और दूसरों को उड़ाते रहो। हिम्मत है उमंग-उत्साह नहीं तो भी सफलता नहीं। उमंग है, हिम्मत नहीं तो भी सफलता नहीं। दोनों साथ रहें तो उड़ती कला है इसलिए सदा हिम्मत और उमंग के पंखों से उड़ते रहो। अच्छा।

अव्यक्त मुरली से चुने हुए अनमोल महावाक्य

108 रत्नों की वैजयन्ती माला में आने के लिए संस्कार मिलन की रास करो

1) कोई भी माला जब बनाते हैं तो एक दाना दूसरे दाने से मिला हुआ रहता है। वैजयन्ती माला में भी चाहे कोई 108 वां नम्बर हो लेकिन दाना दाने से मिला होता है। तो सभी को यह महसूसता आये कि यह तो माला के समान पिरोये हुए मणके हैं। वैरायटी संस्कार होते भी समीप दिखाई दें।

2) एक दो के संस्कारों को जान करके, एक दो के स्नेह में एक दो से मिलजुल कर रहना – यह माला के दानों की विशेषता है। लेकिन एक दो के स्नेही तब बनेंगे जब संस्कार और संकल्पों को एक दो से मिलायेंगे, इसके लिए सरलता का गुण धारण करो।

3) अभी तक स्तुति के आधार पर स्थिति है, जो कर्म करते हो उसके फल की इच्छा रहती है, स्तुति नहीं मिलती तो स्थिति नहीं रहती। निंदा होती है तो धनी को भूल निधनके बन जाते हो। फिर संस्कारों का टकराव शुरू हो जाता है। यही दो बातें माला से बाहर कर देती हैं। इसलिए स्तुति और निंदा दोनों में समान स्थिति बनाओ।

4) संस्कार मिलाने के लिए जहाँ मालिक हो चलना है वहाँ बालक नहीं बनना है और जहाँ बालक बनना है वहाँ मालिक नहीं बनना। बालकपन अर्थात् निरसंकल्प। जो भी आज्ञा मिले, डायरेक्शन मिले उस पर चलना। मालिक बन अपनी राय दो फिर बालक बन जाओ तो टकराव से बच जायेंगे।

5) सर्विस में सफलता का आधार है नम्रता। जितनी नम्रता उतनी सफलता। नम्रता आती है निमित्त समझने से। नम्रता के गुण से सब नमन करते हैं। जो खुद झुकता है उसके आगे सभी झुकते हैं। इसलिए शरीर को निमित्त मात्र समझकर चलो और सर्विस में अपने को निमित्त समझकर चलो तब नम्रता आयेगी। जहाँ नम्रता है वहाँ टकराव नहीं हो सकता। स्वत: संस्कार मिलन हो जायेगा।

6) मन में जो भी संकल्प उत्पन्न होते हैं उसमें सच्चाई और सफाई चाहिए। अन्दर कोई भी विकर्म का किचरा नहीं हो। कोई भी भाव-स्वभाव, पुराने संस्कारों का भी किचरा नहीं हो। जो ऐसी सफाई वाला होगा वो सच्चा होगा और जो सच्चा होगा वह सबका प्रिय होगा। सबके प्रिय बन जाओ तो संस्कार मिलन की रास हो जायेगी। सच्चे पर साहब राज़ी होता है।

7) संस्कार मिलन की रास करने के लिए अपनी नेचर को इज़ी और एक्टिव बनाओ। इज़ी अर्थात् अपने पुरुषार्थ में, संस्कारों में भारीपन न हो। इज़ी है तो एक्टिव है। इज़ी रहने से सब कार्य भी इज़ी, पुरुषार्थ भी इज़ी हो जाता है। खुद इज़ी नहीं बनते तो मुश्किलातों का सामना करना पड़ता है। फिर अपने संस्कार, अपनी कमजोरियां मुश्किल के रूप में देखने में आती हैं।

8) संस्कार मिलन की रास तब हो जब हर एक की विशेषता देखो और स्वयं को विशेष आत्मा समझ विशेषताओं से सम्पन्न बनो। यह मेरे संस्कार हैं, यह मेरे संस्कार शब्द भी मिट जायें। इतने तक मिटना है जो कि नेचर भी बदल जाये। जब हरेक की नेचर बदले तब आप लोगों के अव्यक्ति फीचर्स बनेंगे।

9) बापदादा बच्चों को विश्व महाराजन बनाने की पढ़ाई पढ़ाते हैं। विश्व महाराजन बनने वाले सर्व के स्नेही होंगे। जैसे बाप सर्व के स्नेही और सर्व उनके स्नेही हैं, ऐसे एक-एक के अन्दर से उनके प्रति स्नेह के फूल बरसेंगे। जब स्नेह के फूल यहाँ बरसेंगे तब जड़ चित्रों पर भी फूल बरसेंगे। तो लक्ष्य रखो कि सर्व के स्नेह के पुष्प पात्र बनें। स्नेह मिलेगा सहयोग देने से।

10) सदैव यही लक्ष्य रखो कि हमारी चलन द्वारा कोई को भी दु:ख न हो। मेरी चलन, संकल्प, वाणी और हर कर्म सुखदाई हो। यह है ब्राह्मण कुल की रीति, यही रीति अपना लो तो संस्कार मिलन की रास हो जायेगी।

वरदान:- ईश्वरीय रॉयल्टी के संस्कार द्वारा हर एक की विशेषताओं का वर्णन करने वाले पुण्य आत्मा भव
सदा स्वयं को विशेष आत्मा समझ हर संकल्प वा कर्म करना और हर एक में विशेषता देखना, वर्णन करना, सर्व के प्रति विशेष बनाने की शुभ कल्याण की कामना रखना-यही ईश्वरीय रॉयल्टी है। रॉयल आत्मायें दूसरे द्वारा छोड़ने वाली चीज़ को स्वयं में धारण नहीं कर सकती इसलिए सदा अटेन्शन रहे कि किसी की कमजोरी वा अवगुण को देखने का नेत्र सदा बंद हो। एक दो के गुण गान करो, स्नेह, सहयोग के पुष्पों की लेन-देन करो-तो पुण्य आत्मा बन जायेंगे।
स्लोगन:- वरदान की शक्ति परिस्थिति रूपी आग को भी पानी बना देती है।

 

सूचनाः- आज अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस तीसरा रविवार है, सायं 6.30 से 7.30 बजे तक सभी भाई बहिनें संगठित रूप में एकत्रित हो योग अभ्यास में अनुभव करें कि मैं भ्रकुटी आसन पर विराजमान परमात्म शक्तियों से सम्पन्न सर्वश्रेष्ठ राजयोगी आत्मा कर्मेन्द्रिय जीत, विकर्माजीत हूँ। सारा दिन इसी स्वमान में रहें कि सारे कल्प में हीरो पार्ट बजाने वाली मैं सर्वश्रेष्ठ महान आत्मा हूँ।

TODAY MURLI 21 JUNE 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 21 June 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 20 June 2018 :- Click Here

21/06/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, don’t forget your Godly childhood and thereby lose your highest-on-high inheritance. If you pass fully you will receive a kingdom in the sun dynasty.
Question: Why do none of the souls in the golden and silver ages have to repent for their actions?
Answer: Because all the souls who go into the golden and silver ages experience their reward of the confluence age. They learn such actions from the Father at the confluence age that they don’t have to repent for their actions for 21 births. The Father is now teaching you souls such actions that you become karmateet. You won’t then have to experience sorrow for any actions.
Song: Do not forget the days of your childhood. 

Om shanti. You children heard the sweet song. The unlimited Father explains to you children. The one who is Shri Shri, that is, the most elevated One, is called the Supreme Father, the Supreme Soul. People say: God Shiva speaks; or: God Rudra speaks. Only the Supreme Father, the Supreme Soul, is called Rudra. So, the Supreme Father, the Supreme Soul, is explaining to His children through this body. No other human being, sage or holy man would say: You are a soul. Your Supreme Father is speaking through this lotus mouth. They call it Gaumukh. It is not a question of water. The Father is the Ocean of Knowledge. There is the rosary of 108 Shri Shri Rudra or Shiva. Therefore, first of all, have the strong faith that Baba is teaching you souls. The soul carries sanskars. It is the soul that studies through the organs. The soul himself says: I shed a body and take another with a different name, form, place and time. When I take rebirth in the golden age, the name and form change. The soul says this. When I am in the golden age, rebirth is also in the golden age. The Father explains: This means that when you are in heaven, you take rebirth there and your name and form continue to change. Incorporeal Shiv Baba, the Father, enters this chariot and explains to you: Children, you have now become My children. You are experiencing a lot of happiness now. We are claiming our inheritance from the unlimited Father through this Brahma. The soul says: I play the part of a barrister or a doctor through this body. I, the soul, was bodiless and then I entered a womb and adopted a body. The Father says: I do not enter a womb. We would not say that the Supreme Father, the Supreme Soul, sheds a body and takes another; no. You take another body. This one (Dada) takes another body. This soul has taken the full 84 births. This soul did not know his births. The soul now knows his 84 births. The soul says: I took birth in the sun dynasty and the soul continued to take rebirth. Then he took birth in the moon dynasty and, while taking rebirth, the soul went through the golden, silver, copper and iron ages. The soul says: I remembered the Father a lot in the copper age. We also worshipped the lingam image of the Supreme Father, the Supreme Soul. I, the soul, was a master in the golden age. I did not worship anyone there. There is no devotion in heaven. For half the cycle, I performed devotion. We have now once again come personally in front of the Father. All of you have now come personally in front of the incorporeal Father through the corporeal one. The Father says: Do not forget your Godly birth. You say: Baba, this is very difficult. What is difficult? I am the Father of you souls. I have come to make you pure from impure. You are studying in order to rule a kingdom in heaven. I, the Supreme Father, the Supreme Soul, have sanskars of knowledge. This is why I am called the Ocean of Knowledge, the Seed of the human world. He Himself says: I truly am the Creator. I reside in the supreme abode. Only once, when I have to teach you, do I come here. I come and make the impure world pure. Definitely, only impure ones remember Me. The pure ones of the golden age will not remember Me. No one would say: Come and make us souls impure; no. It is Maya who has made you impure and this is why you say: Make us pure. However, they don’t know when I come. I only come at the confluence age. I don’t come at any other time. I have now come. You sweet children have been adopted by Me. You know that Baba is once again teaching you ancient Raja Yoga through which Bharat becomes pure. This is the school of incorporeal God. Incorporeal Baba says: I enter this body. This Brahma is your senior Mama. That Mama, Saraswati, Jagadamba, is the daughter of Brahma. The senior Mama cannot sustain you and this is why Jagadamba has been appointed. This one’s body (Brahma’s) cannot be called Jagadamba. That One is the Mother and Father. This Brahma is also a mother. An inheritance cannot be received from a mother. An inheritance would be received from a father. You are the mouth-born creation of this mother Brahma. The Father says: Children, after belonging to Me and making effort to claim the sovereignty of heaven, don’t be defeated in the war with Maya. Don’t run away. Don’t forget this Godly childhood. If you forget it, you will have to cry. So BK Saraswati, whom you call Jagadamba, has become an instrument to sustain you. How could this one (Brahma) sustain you? The urn is first of all given to this one. First, this one’s ears hear everything, and then Jagadamba is also there to look after you. The Father says: I have now come at the confluence age to take all of you back. Just as there is the month of charity, which is called the most auspicious month, in the same way, this is the most auspicious age when you become the most elevated human beings of all. “Purshottam” means the most elevated human beings of all. Who are they? How did that Shri Lakshmi and Narayan become the most elevated man and woman of all and through whom? The Father says: Through Me. My name is also Shri Shri, the most elevated of all. I make you human beings become like Shri Narayan. I purify the impure through which you become like Lakshmi and Narayan, the most elevated man and woman. The Father says: Children, continue to forget your bodies and all bodily relationships. Have yoga with Me alone. You say: We have become the Father’s children. We will become the masters of the heaven that the Father establishes. The Father says: Constantly remember Me alone. This is the pilgrimage of souls or the pilgrimage of intellects. It is the soul that has to imbibe everything. The body is non-living. It becomes living when a soul enters it. The Father explains: Beloved children, the destination of this remembrance is very far. People go on pilgrimages and come back again. They never indulge in vice while on a pilgrimage. They may have greed or become angry, but they would definitely remain pure. Then, when they return home, they become impure. At this time, the soul of everyone is false and everyone’s body is also false. All the souls who have come from the kingdom of Lakshmi and Narayan are impure at this time. There is unlimited happiness, peace and purity in the golden age. In the iron age, none of the three exists; there is sorrow and peacelessness in every home. In some homes, there is so much peacelessness that it is like hell; they fight and quarrel among themselves a great deal. Therefore, the Father says: Do not forget this childhood. If you forget it, you will lose your highest-on-high inheritance. If you forget it and divorce Baba, you will attain a very low status. If you follow shrimat, you will become elevated like Shri Lakshmi and Narayan. Sita and Rama come in the silver age. Two degrees have been reduced by then and this is why they have been given the symbol of warriors. It isn’t that there is a war between Rama and Ravan there. Those who conquer Maya go into the deity religion and those who are unable to conquer Maya and fail are called warriors. They will go into the dynasty of Rama and Sita. There are the full 100 marks for those who sit on the number one sun-dynasty throne. If there are a few less marks, you will reach the second number. If you have less than 33% marks, you enter the kingdom later. When the sun dynasty comes to an end, there is the moon dynasty. Those of the sun dynasty then become those of the moon dynasty. The sun-dynasty kingdom then becomes the past. You also have to understand the drama. After the golden age, there is the silver age; you change from satopradhan to the sato stage. Alloy continues to be mixed in. First of all, you are golden, then silver and then copper. You souls now have alloy mixed in you. The lights of souls have been extinguished and the intellects have become stone. The Father is now once again making your intellects divine. He says: O souls, while walking and moving around and carrying out any task, remember the Father. You have to help the Pandava Government for eight hours. You have now come from the devilish clan into the Godly clan. Therefore, if you go back into the devilish clan again, that is, if you remember it again, your sins will not be absolved. All the effort is required for this. Otherwise, you will have to cry and repent a great deal at the end. If a burden of sin remains, the tribunal will sit for you. You will then be given visions: This is what you did in such-and-such a birth. When someone sacrifices himself at Kashi, he is given a vision and then punished. Here, too, you are given visions and Dharamraj would then say: Look, the Father was teaching you through this body of Brahma. He taught you so much, but, in spite of that, you committed these sins. You are not only given a vision of the sins of this birth, but the sins of birth after birth. It takes a lot of time: it is as though you experience punishment for many births and you will then repent and cry a great deal. However, what can be done at that time? This is why I tell you in advance: If you defame My name, there will have to be a lot of punishment. Therefore, children, don’t become those who defame Me, your Satguru. Otherwise, there will be punishment and your status will also be reduced. Your true Baba, the true Teacher and the Satguru is just the One. The Father says: This child Brahma remembers Me a lot. He also imbibes knowledge. This one and Mama pass as number one and then become Lakshmi and Narayan. Their dynasty is created. When everyone is making effort, you too should make effort like Mama and Baba and become the masters of their throne. You too should follow the mother and father and be seated on the future throne. No one is able to know the knowledge of the Creator or creation. Those people say: It is infinite. We do not know. They are atheists. Because of not knowing, the people of Bharat, that is, all the children, are experiencing sorrow. They continue to fight and quarrel over water and land. It is said: This is the fruit of your actions of the past. You are now studying with the Father in order to perform such actions that you will never have to repent for your actions for 21 births. He enables you to reach your full karmateet stage. God speaks: O children, after belonging to Me, your Father and Bridegroom, never divorce Me. You should never even have any thought of divorcing Me. There, a wife would not even think of divorcing her husband. A child would never divorce his father. Nowadays, they do this a lot. In the golden age, they never divorce anyone, because you experience the reward there of the effort you make at this time. This is why there is no question of any sorrow or divorce. This pilgrimage of remembrance, the spiritual pilgrimage, is to go to the Supreme Father, the Supreme Soul. The incorporeal Father sits here and speaks to you incorporeal souls through this mouth. So, this is Gaumukh. He is the senior mother. You are the mouth-born creation. The jewels of knowledge emerge through him. How would water emerge from the mouth of a cow? Baba gives you the imperishable jewels of knowledge through this mouth. Each jewel is worth hundreds of thousands of rupees. It is up to you how much you imbibe. The main thing is “Manmanabhav”. This one jewel is the main one. The unlimited Father says: When you remember Me, I am bound to give you the inheritance of unlimited happiness. For as long as you have a body, continue to remember Me and I will give you the sovereignty of heaven because you become obedient and faithful. To the extent that you stay in remembrance, so you purify the world accordingly. Only by having remembrance are your sins absolved. Maya makes you children repeatedly forget. This is why you are cautioned: Never forget the Father. I have come to take you back. The play will repeat from the golden age. I will not become the Master of the golden age. I give you the kingdom of heaven. I will then go and sit in retirement for half the cycle. Then, for half the cycle, no one remembers Me. Everyone remembers Me in sorrow; no one remembers Me in happiness. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Definitely help the Pandava Government for eight hours. Stay in remembrance and do the service of purifying the world.
  2. Never perform any wrong actions and thereby cause defamation of the Satguru. Make effort like Mama and Baba and claim the sun-dynasty kingdom.
Blessing: May you have all rights and finish dependency by experiencing your right of Him belonging to you.
To make the Father belong to you means to experience your right. Where there is a right, you do not have any dependency on the self; there is no dependency on relationships and connections, there is no dependency on matter or adverse situations. When all of these types of dependency finish, you become one with all rights. Those who know the Father and have made Him belong to themselves by knowing Him are great and have all rights.
Slogan: To harmonise your sanskars and virtues with everyone as you move along is the speciality of special souls.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 21 JUNE 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 21 June 2018

To Read Murli 20 June 2018 :- Click Here
21-06-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – ईश्वरीय बचपन को भूल ऊंचे ते ऊंचा वर्सा गँवा नहीं देना, फुल पास होंगे तो सूर्यवंशी घराने में राज्य मिलेगा”
प्रश्नः- सतयुग और त्रेता में किसी भी आत्मा को अपने कर्म नहीं कूटने पड़ते – क्यों?
उत्तर:- क्योंकि सतयुग-त्रेता में जो भी आत्मायें आती हैं वह संगम की ही प्रालब्ध भोगती हैं, उन्होंने संगम पर बाप द्वारा ऐसे कर्म सीखे हैं तो 21 जन्म तक उन्हें कोई कर्म कूटना न पड़े। अभी बाप ऐसे कर्म सिखलाते हैं जिससे आत्मा कर्मातीत बन जाती है। फिर किसी भी कर्म का फल दु:ख नहीं भोगना पड़ता है।
गीत:- बचपन के दिन भुला न देना… 

ओम् शान्ति। बच्चों ने मीठा-मीठा गीत सुना। बेहद का बाप बच्चों प्रति समझा रहे हैं। परमपिता परमात्मा उसको ही कहा जाता है जो श्री श्री यानी श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ है। कहते भी हैं शिव भगवानुवाच अथवा रुद्र भगवानुवाच। रुद्र परमपिता परमात्मा को ही कहा जाता है। तो परमपिता परमात्मा इस शरीर द्वारा अपने बच्चों को समझा रहे हैं। ऐसे और कोई मनुष्य, साधू, सन्त आदि नहीं कहेंगे कि तुम आत्मा हो। तुम्हारा परमपिता इस मुख कमल से बोल रहा है। कहते हैं गऊमुख। अब पानी की तो कोई बात नहीं। बाप है ज्ञान का सागर। श्री श्री 108 रुद्र माला वा शिव माला है ना। तो पहले-पहले यह पक्का निश्चय करो कि बाबा हम आत्माओं को पढ़ाते हैं। आत्मा ही संस्कार ले जाती है। आत्मा ही पढ़ती है, आरगन्स द्वारा। आत्मा खुद कहती है – मैं एक शरीर छोड़ दूसरा लेती हूँ। भिन्न-भिन्न नाम, रूप, देश, काल….. सतयुग में पुनर्जन्म लेता हूँ तो नाम-रूप बदल जाता है। यह आत्मा बोलती है। सतयुग में हूँ तो पुनर्जन्म भी सतयुग में होता है अथवा बाप समझाते हैं तुम स्वर्ग में हो तो पुनर्जन्म वहाँ लेते हो फिर नाम-रूप बदलता जाता है।

बाप निराकार शिवबाबा इस रथ में आकर समझा रहे हैं – बच्चे, अब तुम हमारे बच्चे बने हो। तुमको बहुत खुशी चढ़ी हुई है। हम बेहद के बाप से वर्सा ले रहे हैं इस ब्रह्मा द्वारा। आत्मा कहती है – मैं इस शरीर द्वारा बैरिस्टरी अथवा डाक्टरी का पार्ट बजाती हूँ। हम आत्मा अशरीरी थी फिर गर्भ में आकर शरीर धारण किया है। बाप कहते हैं मैं तो गर्भ में नहीं आता हूँ। हम ऐसे नहीं कहेंगे कि परमपिता परमात्मा एक शरीर छोड़ दूसरा लेते हैं। नहीं, तुम लेते हो। यह (दादा) लेता है। इस आत्मा ने 84 जन्म पूरे लिए हैं। यह आत्मा अपने जन्मों को नहीं जानती थी। अब 84 जन्मों को जाना है। आत्मा ही कहती है – मैंने सूर्यवंशी घराने में जन्म लिया। फिर पुनर्जन्म लेते आये। फिर चन्द्रवंशी घराने में जन्म लिया। फिर पुनर्जन्म लेते-लेते सतयुग, त्रेता, द्वापर, कलियुग में आये। आत्मा कहती है द्वापर में हमने बाप को बहुत याद किया। परमपिता परमात्मा के लिंग रूप की पूजा भी की। मैं आत्मा सतयुग में मालिक थी, वहाँ किसकी पूजा नहीं करती थी। स्वर्ग में भक्ति होती नहीं। आधा-कल्प भक्ति की। अब फिर बाप के सम्मुख आये हैं। अभी तुम सब निराकार बाप के सम्मुख आये हो साकार द्वारा। बाप कहते हैं यह ईश्वरीय जन्म भूल नहीं जाना। कहते हैं – बाबा, यह तो बड़ा मुश्किल है। अरे, मुश्किल क्या बात है। तुम आत्माओं का बाप मैं हूँ। मैं आया हूँ तुमको पतित से पावन बनाने। तुम स्वर्ग की बादशाही करने लिए पढ़ते हो। ज्ञान के संस्कार मुझ परमपिता परमात्मा में हैं इसलिए मुझे ज्ञान सागर, मनुष्य सृष्टि का बीजरूप कहते हैं। खुद कहते हैं – बरोबर, मैं रचयिता हूँ। मैं परमधाम में रहता हूँ। मैं यहाँ एक ही बार आता हूँ जबकि मुझे पढ़ाना होता है। पतित सृष्टि को आकर पावन बनाता हूँ। जरूर पतित ही याद करेंगे। सतयुग में पावन तो याद नहीं करेंगे। ऐसे तो कोई नहीं कहेंगे कि आकर हम आत्माओं को पतित बनाओ। नहीं, पतित माया ने बनाया है, तब कहते हैं पावन बनाओ। परन्तु उन्हों को यह पता नहीं है कि मैं कब आता हूँ। मैं आता ही हूँ संगम पर। और कोई समय नहीं आता हूँ। अभी आया हूँ। तुम मीठे बच्चों ने हमारी गोद ली है। जानते हो बाबा फिर से प्राचीन राजयोग सिखलाते हैं, जिससे भारत पावन बनता है। यह है निराकार, ईश्वर की पाठशाला। निराकार बाबा कहते हैं – मैं इस तन में आता हूँ। यह ब्रह्मा तुम्हारी बड़ी मम्मा है। वह मम्मा सरस्वती जगत अम्बा है – ब्रह्मा की बेटी। बड़ी मम्मा पालना तो नहीं कर सकती, इसलिए वह जगदम्बा मुकरर रखी है। इसके (ब्रह्मा के) शरीर को जगत अम्बा नहीं कहेंगे। यह मात-पिता है। यह ब्रह्मा माता भी है। वर्सा माता से नहीं मिल सकता। वर्सा फिर भी बाप से मिलेगा। इस ब्रह्मा माता के तुम मुख वंशावली हो। बाप कहते हैं – बच्चे, मेरा बनकर तुम स्वर्ग की बादशाही लेने लिए पुरुषार्थ करते-करते फिर कहाँ माया की युद्ध में हार नहीं जाना। भाग नही जाना। यह ईश्वरीय बचपन भुलाना नहीं। अगर भुलाया तो रोना पड़ेगा। तो बी0के0 सरस्वती जिसको जगत अम्बा कहते हैं – वह पालना करने निमित्त बनी हुई है। यह (ब्रह्मा) पालना कैसे कर सके। कलष पहले-पहले इनको मिलता है। पहले इनके कान सुनते हैं, फिर जगदम्बा है सम्भालने के लिए। अब बाप कहते हैं मैं संगम युग पर आया हूँ, तुमको वापिस ले जाने। जैसे धर्माऊ मास, जिसको पुरुषोत्तम मास कहते हैं ना। वैसे यह भी पुरुषोत्तम युग है। जहाँ उत्तम से उत्तम पुरुष बनना होता है। पुरुषोत्तम माना उत्तम ते उत्तम पुरुष कौन है? यह श्री लक्ष्मी-नारायण, यह नर-नारी ऊंच ते ऊंच कैसे और किस द्वारा बने? बाप कहते हैं मेरे द्वारा। मेरा नाम भी है श्री श्री श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ। ऐसा श्री नारायण जैसा मनुष्य मैं बनाता हूँ। पतितों को पावन बनाता हूँ। जिससे फिर ऐसे लक्ष्मी-नारायण पुरुषोत्तम और पुरुषोत्तमनी बनते हैं। बाप कहते हैं – बच्चे, देह सहित देह के जो भी सम्बन्ध हैं सबको भूलते जाओ। मुझ एक के साथ योग लगाओ। तुम कहते हो हम बाप के बच्चे बने हैं। बाप के स्थापन किये हुए स्वर्ग के हम मालिक बनेंगे। बाप कहते हैं मामेकम् याद करो। यह है आत्मा की अथवा बुद्धि की यात्रा। धारणा सब आत्मा को करनी है। शरीर तो जड़ है। आत्मा की प्रवेशता से यह चैतन्य बनता है।

तो बाप समझाते हैं – लाडले बच्चे, यह याद की मंजिल बड़ी लम्बी है। तीर्थों पर तो मनुष्य चक्र लगाकर लौट आते हैं। तीर्थों पर तो कभी विकार में नहीं जाते हैं। क्रोध, लोभ आदि हो जाये, परन्तु पवित्र जरूर रहेंगे। फिर घर में लौट आते हैं तो अपवित्र बन पड़ते हैं। इस समय सबकी आत्मा भी झूठी तो शरीर भी झूठे हैं। लक्ष्मी-नारायण की राजधानी से लेकर जो भी आत्मायें आती गई हैं इस समय सब पतित हैं। सतयुग में बेहद का सुख, शान्ति, पवित्रता रहती है। कलियुग में तीनों नहीं है। घर-घर में दु:ख-अशान्ति है। कोई-कोई घर में तो इतनी अशान्ति होती है जैसे नर्क। आपस में बहुत लड़ते-झगड़ते रहते है। तो बाप कहते हैं – यह बचपन भुलाना नहीं। अगर भूले तो ऊंच ते ऊंच वर्सा गँवा देंगे। भुला दिया, फारकती दे दी तो अधम गति को पायेंगे। अगर श्रीमत पर चलेंगे तो श्रेष्ठ श्री लक्ष्मी-नारायण बनेंगे। सीता-राम त्रेता में आ जाते हैं। दो कला कम हो गई इसलिए उनको क्षत्रियपन की निशानी दे दी है। ऐसे नहीं, वहाँ कोई राम-रावण की लड़ाई लगी। जो माया पर जीत पहनते हैं वह देवता वर्ण में जाते हैं और जो माया पर जीत नहीं पहन सकेंगे, नापास होंगे उनको क्षत्रिय कहेंगे। वह राम-सीता के घराने में चले जायेंगे। पूरे मार्क्स हैं 100, सूर्यवंशी नम्बरवन जो गद्दी पर बैठेंगे। थोड़े कम मार्क्स होंगे तो सेकेण्ड नम्बर,33 प्रतिशत मार्क्स के नीचे आ जाते हैं तो राज्य पीछे मिलता है। सूर्यवंशी का पूरा हो फिर चन्द्रवंशी का चलता है। सूर्यवंशी फिर चन्द्रवंशी बन जाते हैं। सूर्यवंशी राजधानी पास्ट हो गई। ड्रामा को भी समझना है। सतयुग के बाद त्रेता, सतोप्रधान से सतो हो जाते हैं। खाद पड़ती जाती है। पहले गोल्डन फिर सिलवर, कॉपर….. अब तुम्हारी आत्मा में खाद पड़ी हुई है। आत्मा की ज्योति उझाई हुई है। पत्थर बुद्धि बन पड़े हैं, बाप फिर पारस बुद्धि बनाते हैं। कहते हैं – हे आत्मायें, चलते-फिरते कोई भी कार्य करते बाप को याद करो। आठ घण्टा तो पाण्डव गवर्मेन्ट को मदद करो। अभी तुम आसुरी कुल से ईश्वरीय कुल में आये हो फिर अगर आसुरी कुल में गये अथवा उनको याद किया तो विकर्म विनाश नहीं होंगे। मेहनत सारी इसमें है। नहीं तो अन्त में बहुत रोना पछताना पड़ेगा। पापों का बोझा रह जाता है तो फिर तुम्हारे लिए ट्रिब्युनल बैठती है। साक्षात्कार कराते हैं – तुमने फलाने जन्म में यह किया। काशी कलवट में भी साक्षात्कार कराके सजा देते हैं। यहाँ भी साक्षात्कार कराए धर्मराज कहेंगे – देखो, बाप तुमको इस ब्रह्मा तन से पढ़ाता था, तुमको इतना सिखलाया फिर भी तुमने यह-यह पाप किये, न सिर्फ इस जन्म के परन्तु जन्म-जन्मान्तर के पापों का साक्षात्कार करायेंगे। टाइम बहुत लगता है। जैसे कि बहुत जन्म सजा खा रहा हूँ फिर बहुत पछतायेंगे, रोयेंगे। परन्तु हो क्या सकेगा? इसलिए पहले से बता देता हूँ। नाम बदनाम किया तो बहुत सजा खानी पड़ेगी इसलिए बच्चे, मुझ अपने सतगुरू के निन्दक मत बनना। नहीं तो सजायें भी खायेंगे और पद भी कम हो जायेगा।

तुम्हारा सत बाबा, सत टीचर, सतगुरू एक ही है। अब बाप कहते हैं यह ब्रह्मा बच्चा हमको बहुत याद करता है। ज्ञान भी धारण करते हैं। यह और मम्मा नम्बरवन पास हो फिर लक्ष्मी-नारायण बनते हैं, इनकी डिनायस्टी बनती है। जब सब पुरुषार्थ करते हैं तो हम भी मम्मा-बाबा के मिसल मेहनत कर उनके तख्त के मालिक बनें, मात-पिता को फालो करें और भविष्य तख्त नशीन बनें। यह रचयिता और रचना की नॉलेज कोई जान नहीं सकते। वह तो बेअन्त कह देते हैं – हम नहीं जानते हैं, नास्तिक हैं। न जानने के कारण ही भारतवासी अथवा सब बच्चे दु:खी हुए हैं। लड़ते-झगड़ते रहते हैं – पानी के लिए, जमीन के लिए….. कहा भी जाता है – यह पास्ट जन्मों के कर्मों का फल है। अभी बाप से तुम ऐसे कर्म सीखते हो जो तुमको 21 जन्म कभी कर्म कूटना नहीं पड़ेगा। एकदम कर्मातीत अवस्था में पहुँचा देते हैं। भगवानुवाच – हे बच्चे, मुझ बाप के अथवा मुझ साजन के बनकर फिर कभी फारकती मत देना। फारकती देने का कभी संकल्प भी नहीं आना चाहिए। वहाँ कभी स्त्री पति को डायवोर्स देने का संकल्प भी नहीं करेगी। बच्चा कभी बाप को फारकती नहीं देगा। आजकल तो बहुत देते हैं। सतयुग में कभी फारकती नहीं देते हैं क्योंकि वहाँ तुम अभी के पुरुषार्थ की प्रालब्ध भोगते हो इसलिए कोई दु:ख का अथवा फारकती का प्रश्न ही नहीं।

यह याद की यात्रा है – परमपिता परमात्मा के पास जाने की रूहानी यात्रा। निराकार बाप निराकार आत्माओं से बात करते है इस मुख द्वारा। तो यह गऊ मुख हुआ ना। बड़ी माँ है। तुम हो मुख वंशावली। उनसे ज्ञान रत्न निकलते हैं। बाकी गऊ के मुख से जल कैसे निकलेगा? बाबा इस मुख द्वारा अविनाशी ज्ञान रत्न देते हैं। एक-एक रत्न लाखों रूपयों का है। जितना तुम धारण करेंगे…..। मुख्य है ही मन्मनाभव। यह एक रत्न ही मुख्य है। बेहद का बाप कहते हैं मुझे याद करने से मैं बेहद सुख का वर्सा देने लिए बाँधा हुआ हूँ। जब तक शरीर है मुझे याद करते रहो तो तुमको स्वर्ग की बादशाही देंगे क्योंकि तुम आज्ञाकारी, व़फादार बनते हो। जितना जो याद में रहते हैं उतना दुनिया को पवित्र बनाते हैं। याद से ही विकर्म विनाश होते हैं। बच्चों को माया घड़ी-घड़ी भुला देती है इसलिए खबरदार करते हैं। कभी बाप को भुला नहीं देना। मैं तुमको लेने आया हूँ। सतयुग से फिर नाटक रिपीट होगा। मैं सतयुग का मालिक नहीं बनूँगा। तुमको स्वर्ग की राजाई देता हूँ। मैं फिर आधा-कल्प वानप्रस्थ में बैठ जाऊंगा। फिर आधा-कल्प मुझे कोई याद नहीं करते। दु:ख में सभी याद करते हैं। सुख में करे न कोई….. अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) 8 घण्टा पाण्डव गवर्मेन्ट की मदद जरूर करनी है। याद में रह विश्व को पावन बनाने की सेवा करनी है।

2) कभी कोई उल्टा कर्म करके सतगुरू की निन्दा नहीं करानी है। मम्मा-बाबा जैसा पुरुषार्थ कर सूर्यवंशी राजाई लेनी है।

वरदान:- अपने पन के अधिकार की अनुभूति द्वारा अधीनता को समाप्त करने वाले सर्व अधिकारी भव
बाप को अपना बनाना अर्थात् अपना अधिकार अनुभव होना। जहाँ अधिकार है वहाँ न तो स्व के प्रति अधीनता है, न सम्बन्ध-सम्पर्क में आने की अधीनता है, न प्रकृति और परिस्थितियों में आने की अधीनता है। जब इन सब प्रकारों की अधीनता समाप्त हो जाती है तब सर्व अधिकारी बन जाते। जिन्होंने भी बाप को जाना और जानकर अपना बनाया वही महान हैं और अधिकारी हैं।
स्लोगन:- अपने संस्कार वा गुणों को सर्व के साथ मिलाकर चलना – यही विशेष आत्माओं की विशेषता है।

TODAY MURLI 21 June 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 21 June 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 20 June 2017 :- Click Here

[wp_ad_camp_5]

 

 

21/06/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, this is a play about the graveyard (kabristhan) and the land of fairies (Paristhan). At this time it is the graveyard and later it will become Paristhan. Your heart should not be attached to this graveyard.
Question: By knowing what one thing will human beings have all their doubts removed?
Answer: If they come to know who the Father is and how He comes, all their doubts will be removed. Until they know the Father, their doubts cannot end. By your intellects having faith, you become part of the rosary of victory, but there has to be full faith in everything within a second.
Song: Leave Your throne of the sky and come down to this earth!

 

Om shanti. The Father sits here and explains to you children. This is the unlimited, spiritual Father. All souls definitely change their form: they come from the incorporeal world into corporeal forms to play their parts on the field of action. Children say: Baba, change Your form just as we do. Surely, He would adopt a corporeal form to give knowledge; He would take on the form of a human body. You children also understand that you were incorporeal and that you then became corporeal; it is definitely like this. That is the incorporeal world. The Father sits here and speaks. He says: You do not know the story of your 84 births. I enter this one and explain to him. He did not know this. Krishna was the prince of the golden age, but this One has to come into the impure world, in an impure body. Krishna was beautiful, but no one knows how he became ugly. They say that he was bitten by a snake; in fact, it was a question of the five vices. By sitting on the pyre of lust, you become ugly. Krishna is called shyam sundar (the ugly and beautiful one). I do not have a body that I would become ugly and then beautiful; I am ever pure. I come at the confluence of every cycle, when it is the end of the iron age and the beginning of the golden age. I have to come to establish heaven. The golden age is the land of happiness and the iron age is the land of sorrow. At this time, all human beings are impure. You cannot say that the government of Lakshmi and Narayan, the emperor and empress of the golden age, is corrupt. Here, all are impure. When Bharat was heaven, there was the kingdom of deities. At that time, there was only one religion and everyone was completely pure and elevated. Here, corrupt ones worship the elevated ones. Sannyasis become pure, and so impure ones bow their heads in front of them. Householders do not follow the sannyasis; they just say: I am a follower of such and such a sannyasi. However, it is only when those people truly follow that they can be called followers. If you become a sannyasi yourself, you could then be called a follower. Householders become their ‘followers’ but they do not remain pure. Neither do the sannyasis explain this to them, nor do they themselves understand that they are not truly following the sannyasis. Here, you have to follow the mother and father fully. It is said: Follow the mother and father. Break your intellect’s yoga away from all bodily beings and have a connection with only Me, your Father; then you will come to the Father and you will then go into the golden age. You are all-rounders; you take 84 births. You understand that your all-round part s continue from the beginning to the end and from the end to the beginning. The part s of those of other religions do not continue from the beginning to the end. The original, eternal religion is only of deities. At first, there was the sun dynasty. You now understand that you go around the cycle of 84 births, but those who come later on cannot be allrounders. This is something to be understood. No one except the Father can explain this. First, there is deityism. The kingdom of the sun and moon dynasties continues for half the cycle. The confluence age now is very short. This is called ‘sangam’ (confluence), and also ‘kumbh’ (the meeting). Everyone remembers Him: O Supreme Father, Supreme Soul, come and make us pure from impure. They wander around a great deal in order to meet the Father. They keep holding sacrificial fires, doing tapasya, giving donations and performing charitable acts, etc., but there is no benefit in any of that. You have now become free from wandering. Those are the rituals of devotion and these are the rituals of knowledge. The path of devotion continues for half a cycle. This is the path of knowledge and you are told at this time to have disinterest in the old world. Therefore, yours is unlimited disinterest because you know that this whole world is to become a graveyard. At this time it is the graveyard and it will afterwards become the land of fairies. This is a play about kabristan and Paristhan. The Father establishes the land of fairies which everyone remembers. No one remembers Ravan. By understanding the first main point, all their doubts finish. Until they first recognise the Father, they will remain those whose intellects have doubt. Those whose intellects have doubt are the ones who are led to destruction. Definitely, He is the Father of us souls. He gives the unlimited inheritance. It is only by having faith that we can be threaded in the rosary of victory. There should be faith in every word within a second. Since you say “Baba,” there should be full faith. The Incorporeal is called the Father. In fact, they also called Gandhi “Bapuji” (father), but here, the Bapuji of the world is needed. He is God , the Father of the world. God, the Father of the world, must be very great; you receive the kingdom of the world from Him. The kingdom of Vishnu is established through Brahma. You also understand that you were the masters of the world. You were deities, you then became those who belonged to the moon dynasty, then the warrior dynasty and then the shudra dynasty. Only you children understand all of these things. The Father says: There will be many obstacles in this sacrificial fire of knowledge of Mine. This is the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. The fire of destruction is ignited from this sacrificial fire. The whole of the old world will be destroyed and the one deity religion will be established. The Father is explaining to you and telling you the truth. He is telling you the true story of becoming Narayan from an ordinary human. Only now do you hear this story; it has not continued since the beginning of time. The Father says: You have now completed 84 births. Then, there will be your kingdom in the new world. This is the knowledge of Raja Yoga. Only the Supreme Father, the Supreme Soul, has the knowledge of easy Raja Yoga. It is also called Raja Yoga of ancient Bharat. The iron age was definitely transformed into the golden age. Destruction had also begun; that was a question of missiles. There is no question of battles in the golden or silver age; they take place later on. The final war will be with missiles. Earlier, they used to fight with swords, then they started to fire guns, then cannon were invented and now there are bombs. How else could the whole world be destroyed? Along with those, there are also natural calamities. There is torrential rain and famine etc. Those are all natural calamities. For instance, earthquakes are called natural calamities. What can anyone do about them? Now, if people had taken insurance out, who would pay whom? All will die; no one will receive anything. You now have to insure everything with the Father. They insure on the path of devotion too, but they only receive a short-lived return. Here, you insure directly. Someone who insures everything receives a sovereignty. Baba gives his own example: he gave everything, he insured everything fully with the Father, and so he receives the full sovereignty. However, the rest of this world will be destroyed. This is the land of death. The wealth of some will remain buried in the mud, while the governments will take away that of others. When there is a fire somewhere, or if any disasters arise, looters come and steal many things. It is now the time of the end. This is why you now have to remember the Father and give help. At this time, all are impure, so no one can establish a pure world. This is the Father’s task. They call out to the Father: Come from the incorporeal world, come and adopt a form. The Father says: I have come into the corporeal world and adopted a form, but I do not always remain in this one; you cannot ride all day! They show someone riding a bull. They have also shown the fortunate chariot of a human being. Now is this right, or is that right? They show a cowshed and also a Gaumukh (cow’s mouth). They portray someone riding a bull and knowledge being given through a cow’s mouth. This is the nectar of knowledge emerging and it too has a meaning. There is even a temple to Gaumukh. Many go to see that temple. They believe that nectar is dripping from the cow’s mouth and that they should go and drink that. There are seven hundred steps down to get there. In fact, this one is the greatest Gaumukh. They also make a lot of effort to go to Amarnath, although there is nothing there. They are all cheats. They have shown Shankar relating a story to Parvati, but Parvati was not so degraded that he would have had to sit and relate religious stories to her. People also spend a lot of money building temples etc. The Father says: By spending so much of your money, you have wasted all the money. You were once so solvent, and you have now become insolvent. However, I have now come to make you solvent again. You children understand that you have come to the Father to take your inheritance. The Father is now giving you this inheritance. Bharat is the birthplace of the Supreme Father, the Supreme Soul, and so this is the greatest pilgrimage place. The Father comes and purifies all the impure ones. If the Father’s name were in the Gita, all would come here and offer flowers. No one except the Father can bring salvation. Bharat is the greatest pilgrimage place but no one knows this. Otherwise, just as the Father’s praise is limitless, so there is also the praise of Bharat. It is Bharat that becomes hell and heaven. The limitless praise is of heaven, whereas the limitless defamation is of hell. You children are now becoming the masters of the land of truth. You have come here to take the unlimited inheritance from Baba. The Father says: Manmanabhav! Remove your intellect’s yoga from everyone else and remember Me alone. You will become pure by having remembrance. You have to take the inheritance by imbibing knowledge. Everyone receives the inheritance of liberation-in-life, but only those who study Raja Yoga receive the inheritance of heaven as well. Everyone will receive salvation. He will take everyone back home. The Father says: I am the Death of all Deaths. There is the temple to Mahakal too, (the Great Death). The Father explains: At the end, when the glorification takes place, people will understand that it truly is the unlimited Father who tells you all of this. If someone were to relate a story now (at a religious gathering) and say that the God of the Gita is not Krishna but Shiva”, everyone would say that that one has been influenced by the Brahma Kumaris. This indicates that it is not yet their time. They will understand later; if they were to believe everything now, their whole business would finish. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Break all other connections and follow the mother and father fully. Your intellect should have unlimited disinterest in this old world. You have to forget it.
  2. It is now the time of the end and everything is to be destroyed. Therefore, before the very end, insure everything you have and claim a right to the full future sovereignty.
Blessing: With the constant company of the Truth, may you finish all weaknesses and be an easy yogi and an easy gyani soul.
Any weakness comes when you have stepped away from the company of the Truth and are influenced by other company. This is why it is said on the path of devotion: Constantly keep the company of the Truth. The company of the Truth means constantly to stay in the Father’s company. For all of you, it is easy to have the company of the true Father because you have a close relationship with Him. So, constantly stay in the company of the Truth, be an easy yogi and an easy gyani soul and finish all weaknesses.
Slogan: To remain constantly happy, renounce any desire to hear your own praise.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

 

Read Bk Murli 19 June 2017 :- Click Here

Read Murli 17 June 2017 :- Click Here

 

Brahma kumaris murli 21 June 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 21 June 2017

To Read Murli 20 June 2017 :- Click Here

[wp_ad_camp_5]

 

 

21/06/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – यह खेल है कब्रिस्तान और परिस्तान का, इस समय कब्रिस्तान है फिर परिस्तान बनेगा – तुम्हें इस कब्रिस्तान से दिल नहीं लगानी है”
प्रश्नः- मनुष्य कौन सी एक बात को जान लें तो सब संशय दूर हो जायेंगे?
उत्तर:- बाप कौन है, वह कैसे आते हैं – यह बात जान लें तो सब संशय दूर हो जायेंगे। जब तक बाप को नहीं जाना तब तक संशय मिट नहीं सकते। निश्चयबुद्धि बनने से विजय माला में आ जायेंगे लेकिन एक-एक बात में सेकण्ड में पूरा निश्चय होना चाहिए।
गीत:- छोड़ भी दे आकाश सिंहासन…

 

ओम् शान्ति। बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं। यह है बेहद का रूहानी बाप। आत्मायें सभी रूप तो जरूर बदलती हैं। निराकार से साकार में आते हैं पार्ट बजाने, कर्मक्षेत्र पर। बच्चे कहते हैं बाबा आप भी हमारे मुआफिक रूप बदलो। जरूर साकार रूप धारण करके ही तो ज्ञान देंगे ना। मनुष्य का ही रूप लेंगे ना! बच्चे भी जानते हैं हम निराकार हैं फिर साकार बनते हैं। बरोबर है भी ऐसे। वह है निराकारी दुनिया। यह बाप बैठ सुनाते हैं। कहते हैं तुम अपने 84 जन्मों की कहानी को नहीं जानते हो। मैं इनमें प्रवेश कर इनको समझा रहा हूँ, यह तो नहीं जानते हैं ना। कृष्ण तो सतयुग का प्रिन्स है, इनको आना पड़ता है पतित दुनिया, पतित शरीर में। कृष्ण गोरा था, फिर काला कैसे हुआ? यह कोई जानते नहीं। कहते हैं सर्प ने डसा। वास्तव में यह है 5 विकारों की बात। काम-चिता पर बैठने से काले बन जाते हैं। श्याम-सुन्दर कृष्ण को ही कहते हैं। मेरा तो शरीर ही नहीं है – जो गोरा वा सांवरा बने। मैं तो एवर पावन हूँ। मैं कल्प-कल्प संगम पर आता हूँ, जब कलियुग का अन्त, सतयुग का आदि होता है। मुझे ही आकर स्वर्ग की स्थापना करनी है। सतयुग है सुखधाम। कलियुग है दु:खधाम। इस समय मनुष्य मात्र सब पतित हैं। सतयुग के लक्ष्मी-नारायण, महाराजा-महारानी की गवर्मेन्ट को भ्रष्टाचारी तो नहीं कहेंगे। यहाँ सब हैं पतित। भारत स्वर्ग था तो देवी-देवताओं का राज्य था। एक ही धर्म था। सम्पूर्ण पावन, श्रेष्ठाचारी थे। भ्रष्टाचारी, श्रेष्ठाचारियों की पूजा करते हैं। सन्यासी पवित्र बनते हैं तो अपवित्र उनको माथा टेकते हैं। सन्यासी को गृहस्थी फालो तो कुछ करते नहीं, सिर्फ कह देते हैं मैं फलाने सन्यासी का फालोअर्स हूँ। सो तो जब फालो करो। तुम भी सन्यासी बन जाओ तब कहेंगे फालोअर, गृहस्थी फालोअर्स बनते हैं परन्तु वह पवित्र तो बनते नहीं। न सन्यासी उनको समझाते हैं, न वह खुद समझते हैं कि हम फालो तो करते नहीं हैं। यहाँ तो पूरा फालो करना है – मात-पिता को। गाया जाता है फालो फादर-मदर, और संग बुद्धियोग तोड़ना है, सभी देहधारियों से तोड़ मुझ एक बाप से जोड़ो तो बाप के पास पहुँच जायेंगे, फिर सतयुग में आ जायेंगे। तुम आलराउन्डर हो। 84 जन्म लेते हो। आदि से अन्त तक, अन्त से आदि तक तुम जानते हो हमारा आलराउन्ड पार्ट चलता है। दूसरे धर्म वालों का आदि से अन्त तक पार्ट नहीं चलता है। आदि सनातन है ही एक देवी-देवता धर्म। पहले-पहले सूर्यवंशी थे।

अब तुम जानते हो हम आलराउन्ड 84 जन्मों का चक्कर लगाते हैं। बाद में आने वाले तो आलराउन्डर हो न सकें। यह समझ की बात है ना। बाप के सिवाए कोई समझा न सके। पहले-पहले है ही डिटीज्म। आधाकल्प सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी राज्य चलता है। अभी तो यह बहुत छोटा सा युग है, इनको ही संगम कहते हैं, कुम्भ भी कहते हैं। उनको ही याद करते हैं – हे परमपिता परमात्मा आकर हम पतितों को पावन बनाओ। बाप से मिलने लिए कितना भटकते रहते हैं। यज्ञ-तप, दान-पुण्य आदि करते रहते हैं। फायदा कुछ भी नहीं होता है। अब तुम भटकने से छूट गये हो। वह है भक्ति काण्ड। यह है ज्ञान काण्ड। भक्ति मार्ग आधाकल्प चलता है। यह है ज्ञान मार्ग। इस समय तुमको पुरानी दुनिया से वैराग्य दिलाते हैं इसलिए तुम्हारा यह है बेहद का वैराग्य क्योंकि तुम जानते हो यह सारी दुनिया कब्रिस्तान होनी है। इस समय कब्रिस्तान है फिर परिस्तान बनेगा। यह खेल है कब्रिस्तान, परिस्तान का। बाप परिस्तान स्थापन करते हैं, जिसको याद करते हैं। रावण को कोई याद नहीं करते हैं। मुख्य एक बात समझने से फिर सब संशय मिट जायेंगे, जब तक पहले बाप को नहीं जाना है तो संशय बुद्धि ही रहेंगे। संशयबुद्धि विनश्यन्ती.. बरोबर हम सब आत्माओं का वह बाप है, वही बेहद का वर्सा देते हैं। निश्चय से ही विजय माला में पिरो सकते हैं। एक-एक अक्षर में सेकण्ड में निश्चय होना चाहिए। बाबा कहते हैं तो पूरा निश्चय होना चाहिए ना। बाप निराकार को कहा जाता है। ऐसे तो गांधी को भी बापू जी कहते थे। परन्तु यहाँ तो वर्ल्ड का बापू जी चाहिए ना। वह तो है ही वर्ल्ड का गॉड फादर। वर्ल्ड का गॉड फादर वह तो बहुत बड़ा हुआ ना। उनसे वर्ल्ड की बादशाही मिलती है। ब्रह्मा द्वारा स्थापना होती है, विष्णु के राज्य की। तुम जानते हो हम ही विश्व के मालिक थे। हम सो देवी-देवता थे फिर चन्द्रवंशी, वैश्यवंशी, शूद्रवंशी बनें। इन सब बातों को तुम बच्चे ही समझते हो। बाप कहते भी हैं इस मेरे ज्ञान यज्ञ में विघ्न बहुत पड़ेंगे। यह है रूद्र ज्ञान यज्ञ, इससे विनाश ज्वाला प्रज्जवलित होती है। इसमें सारी पुरानी दुनिया खत्म हो, एक देवता धर्म की स्थापना हो जायेगी। तुमको समझाने वाला बाप है, वह सच बोलते हैं, नर से नारायण बनने की सत्य कथा सुनाते हैं। यह कथा तुम अभी ही सुनते हो। यह कोई परम्परा नहीं चलती है।

अब बाप कहते हैं तुमने 84 जन्म पूरे किये हैं। अब फिर नई दुनिया में तुम्हारा राज्य होगा। यह है राजयोग का ज्ञान। सहज राजयोग की नॉलेज एक परमपिता परमात्मा के पास ही है, जिसको प्राचीन भारत का राजयोग कहते हैं। बरोबर कलियुग को सतयुग बनाया था। विनाश भी शुरू हुआ था, मूसलों की ही बात है। सतयुग त्रेता में तो कोई लड़ाई होती नहीं, बाद में शुरू होती है। यह मूसलों की है लास्ट लड़ाई। आगे तलवार से लड़ते थे, फिर बन्दूक बाजी चलाई। फिर तोप निकाली, अब बाम्ब्स निकाले हैं, नहीं तो सारी दुनिया का विनाश कैसे हो। फिर उनके साथ नेचुरल कैलेमिटीज़ भी है। मूसलधार बरसात, फैमन, यह है नेचुरल कैलेमिटीज़। समझो अर्थक्वेक होती है, उसको कहते हैं नेचुरल कैलेमिटीज़। उसमें कोई क्या कर सकते हैं। कोई ने अपना इन्श्योरेंस भी किया हो तो कौन और किसको देगा। सब मर जायेंगे, किसको कुछ भी मिलेगा नहीं। अभी तुम्हें फिर इनश्योर करना है बाप के पास। इनश्योर भक्ति में भी करते हैं, परन्तु वह आधाकल्प का रिटर्न मिलता है। यह तो तुम डायरेक्ट इनश्योर करते हो। कोई सब कुछ इनश्योर करेगा तो उनको बादशाही मिल जायेगी। जैसे बाबा अपना बतलाते हैं – सब कुछ दे दिया। बाबा पास फुल इनश्योर कर लिया तो फुल बादशाही मिलती है। बाकी तो यह दुनिया ही खत्म हो जाती है। यह है मृत्युलोक। किनकी दबी रहेगी धूल में, किनकी राजा खाए… जब कहाँ आग लगती है वा कोई आफत आती है तो चोर लोग लूटते हैं। यह समय ही अन्त का है, इसलिए अब बाप को याद करना है। मदद करनी है।

इस समय सब पतित हैं, वह पावन दुनिया स्थापन कर न सकें। यह तो बाप का ही काम है। बाप को ही बुलाते हैं, निराकारी दुनिया से आओ, आकर रूप धरो। तो बाप कहते हैं मैं साकार में आया हूँ, रूप धरा है। परन्तु हमेशा इसमें नहीं रह सकता हूँ। सवारी कोई सारा दिन थोड़ेही होती है। बैल की सवारी दिखाते हैं। भाग्यशाली रथ मनुष्य का दिखाते हैं। अब यह राइट है या वह? गऊशाला दिखाते हैं ना। गऊमुख भी दिखाया है। बैल पर सवारी और फिर गऊमुख से नॉलेज देते हैं। यह ज्ञान अमृत निकलता है। अर्थ है ना। गऊमुख का मन्दिर भी है। बहुत लोग जाते हैं तो समझते हैं गऊ के मुख से अमृत टपकता है। वह जाकर पीना है। 700 सीढ़ियां हैं। सबसे बड़ा गऊमुख तो यह है। अमरनाथ पर कितनी मेहनत कर जाते हैं। वहाँ है कुछ भी नहीं। सब ठगी है, दिखाते हैं शंकर ने पार्वती को कथा सुनाई। अब क्या पार्वती की दुर्गति हुई, जो उनको कथा बैठ सुनाई? मनुष्य मन्दिर आदि बनाने में कितना खर्चा करते हैं। बाप कहते हैं खर्चा करते-करते तुमने सब पैसे गंवा दिये हैं। तुम कितने सालवेन्ट थे, अब इनसाल्वेन्ट बन गये हो फिर मैं आकर सालवेन्ट बनाता हूँ। तुम जानते हो बाप से हम वर्सा लेने आये हैं। तुम बच्चों को दे रहे हैं। भारत है परमपिता परमात्मा का बर्थ प्लेस। तो सबसे बड़ा तीर्थ हुआ ना। फिर सर्व पतितों को पावन भी बाप ही बनाते हैं। गीता में अगर बाप का नाम होता तो सभी यहाँ आकर फूल चढ़ाते। बाप के सिवाए सभी को सद्गति कौन दे सकता। भारत ही सबसे बड़े से बड़ा तीर्थ है, परन्तु कोई को मालूम नहीं है। नहीं तो जैसे बाप की महिमा अपरमपार है वैसे भारत की भी महिमा है। हेल और हेविन भारत बनता है। अपरमअपार महिमा है ही हेविन की। अपरमअपार निंदा फिर हेल की करेंगे।

तुम बच्चे सचखण्ड के मालिक बनते हो। यहाँ आये हो बाबा से बेहद का वर्सा लेने। बाप कहते हैं मनमनाभव और सबसे बुद्धियोग हटाए मामेकम् याद करो। याद से ही पवित्र बनेंगे। नॉलेज से वर्सा लेना है, जीवनमुक्ति का वर्सा तो सबको मिलता है परन्तु स्वर्ग का वर्सा राजयोग सीखने वाले ही पाते हैं। सद्गति तो सबकी होनी है ना, सबको वापस ले जायेंगे। बाप कहते हैं मैं कालों का काल हूँ। महाकाल का भी मन्दिर है। बाप ने समझाया है अन्त में प्रत्यक्षता होगी तब समझेंगे कि बरोबर इन्हों को बतलाने वाला बेहद का बाप ही है। कथा सुनाने वाले अगर अब कहें गीता का भगवान कृष्ण नहीं, शिव है तो सब कहेंगे इनको भी बी.के. का भूत लगा है इसलिए इन्हों का अभी टाइम नहीं है। पिछाड़ी को मानेंगे। अभी मान लेवें तो उन्हों की सारी ग्राहकी चली जाए। अच्छा –

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) और सब संग तोड़ मात-पिता को पूरा-पूरा फालो करना है। इस पुरानी दुनिया से बेहद का वैराग्य रख इसे भूल जाना है।

2) यह अन्त का समय है, सब खत्म होने के पहले अपने पास जो कुछ है, उसे इनश्योर कर भविष्य में फुल बादशाही का अधिकार लेना है।

वरदान:- सदा सत के संग द्वारा कमजोरियों को समाप्त करने वाले सहज योगी, सहज ज्ञानी भव
कोई भी कमजोरी तब आती है जब सत के संग से किनारा हो जाता है और दूसरा संग लग जाता है इसलिए भक्ति में कहते हैं सदा सतसंग में रहो। सतसंग अर्थात् सदा सत बाप के संग में रहना। आप सबके लिए सत बाप का संग अति सहज है क्योंकि समीप का संबंध है। तो सदा सतसंग में रह कमजोरियों को समाप्त करने वाले सहज योगी, सहज ज्ञानी बनो।
स्लोगन:- सदा प्रसन्न रहना है तो प्रशंसा सुनने की इच्छा का त्याग कर दो।

 

[wp_ad_camp_1]

 

To Read Murli 19 June 2017 :- Click Here

Read Murli 18 June 2017 :- Click Here

 

 

Font Resize