21 july ki murli

TODAY MURLI 21 JULY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 21 July 2020

21/07/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father is teaching you in order to make you into beautiful deities. The foundation of your beauty is purity.
Question: What is the sign of the moths who sacrifice themselves to the spiritual Flame?
Answer: 1. Moths who sacrifice themselves to the Flame know Him accurately as He is and they remember Him accurately. 2. To sacrifice oneself means to become equal to the Father. 3. To sacrifice oneself means to claim a right to a kingdom that is higher than the Father’s.
Song: The Flame has ignited in the gathering of moths.

Om shanti. You sweetest, spiritual children heard a line of the song. Who is explaining this? The spiritual Father. He is also called the Flame. He has been given many names. There is also a great deal of praise of the Father. This is the praise of the Supreme Father, the Supreme Soul, is it not? The Father has come as the Flame for you moths. When moths see a flame, they sacrifice themselves onto it and leave their bodies. Many moths surrender their lives to a flame. Especially at Deepmala, many lamps are lit. Therefore, many tiny insects die at night. You children now know that our Baba is the Supreme Spirit. He is also called Hussein. He is very beautiful because He is everpure. When souls become pure, they receive pure and naturally beautiful bodies. Souls remain pure when they are in the land of peace. When they first come here to play their parts, they are satopradhan. Then they become sato, rajo and tamo. From being beautiful, they become ugly, that is, they become impure. When souls are pure, they are said to be goldenaged. They then receive golden-aged bodies. The world becomes old and new. The beautiful Supreme Father, the Supreme Soul, to whom people have been calling out “O Shiv Baba!” on the path of devotion, that incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, has now come to change impure souls into pure souls and make them beautiful. It isn’t that the souls of those who are beautiful nowadays are pure; no. Although someone’s body may be beautiful, that soul is impure. People abroad are so beautiful. You know that Lakshmi and Narayan have golden-aged beauty whereas people here have the beauty of hell. Human beings don’t know about these things. It is only explained to you children that the beauty here is for hell. We are all becoming naturally beautiful for heaven. We will remain that beautiful for 21 births. The beauty that people have here only lasts for one birth. When Baba comes here, not only does He make the human beings of this world beautiful, He makes the whole world beautiful. In the new world of the golden age, there are only beautiful deities. You are now studying to become like them. The Father is also called the Flame, but He is, in fact, the Supreme Soul. Just as each of you is called a soul, so He is also called the Supreme Soul. You children sing praise of the Father and the Father praises you children. I make you so elevated that your status becomes even higher than Mine. No one knows Me as I am, what I am or how I play My part. You children now understand how you souls come from the supreme abode to play your parts. You belonged to the shudra clan and have now come into the Brahmin clan. This is your clan; this clan isn’t for those of other religions. Other religions don’t have clans. Christians just have the one clan, they just continue to be Christians. Yes, they too become sato, rajo and tamo but, otherwise, these clans only belong to you. The world too goes through the stages of sato, rajo and tamo. The unlimited Father sits here and explains the world cycle. The Father, who is the Ocean of Knowledge and the Ocean of Purity, Himself, says: I don’t take rebirth. Although people celebrate the birthday of Shiva, they don’t know when He comes. They don’t even know His life history. The Father says: Every cycle, I explain to you children about what I am, how I am, what part I have in Me and how the world cycle continues to turn. You know that you have become tamopradhan as you continued to come down the ladder. You are the ones who take 84 births. Those who come later also have to go through the stages of sato, rajo and tamo. When you become tamopradhan, the whole world becomes tamopradhan. Surely then, you have to become satopradhan from tamopradhan; this world cycle continues to turn. It is now the iron age. Then, after this, the golden age will come. The period of the iron age has come to an end. The Father says: I have entered an ordinary body, exactly as I did in the previous cycle, in order to teach you children Raj Yoga once again. Nowadays, there are many yogas: yoga to become a barrister, yoga to become an engineer. In order to become a barrister, the intellect’s yoga has to be linked to a barristerThey think: We are becoming barristers. Therefore, we remember the one who is teaching us. Their fathers are separate. If they had a guru they would remember him. Nevertheless, their intellects’ yoga would be with the barrister. It is the soul that studies. It is the soul that becomes a barrister or a judge through his body. You children are now creating sanskars in yourselves to become soul conscious. You have been body conscious for half the cycle. The Father says: Now become soul conscious! The sanskars for studying are in the souls. It is a human soul that becomes a judge. We are now becoming deities, the masters of the world, and the one who teaching us is Shiv Baba, the Supreme Soul. He is the Ocean of Knowledge, Peace and Prosperity. Platefuls of jewels have been portrayed emerging from the sea. Those aspects that the Father has to refer to belong to the path of devotion. The Father explains: These are the imperishable jewels of knowledge. You become very wealthy with these jewels of knowledge and you also receive very many diamonds and jewels. Each of these jewels is worth hundreds of thousands of rupees. They make you so wealthy. You know that Bharat was the viceless world. Pure deities used to reside there. They have now become impure and ugly. This is a meeting of souls with the Supreme Soul. Only when souls are in a body are they able to listen. The Supreme Soul also enters a body. The home of souls and the Supreme Soul is the abode of peace. There is no sound or movement there. The Supreme Father, the Supreme Soul, comes here to meet you children. He meets you through this body. There, it is the home where you rest. You children are now at the most elevated confluence age, whereas the rest of the world is in the iron age. The Father sits here and explains these things. They incur a lot of expense on the path of devotion. They make many pictures, they build very big temples. Otherwise, they could also keep a picture of Krishna at home. Those pictures are very cheap. So, why do they go so far away to the temples? That is the path of devotion. Those temples etc. don’t exist in the golden age. People there are worthy of being worshipped. In the iron age, they are worshippers. You are now at the confluence age and becoming worthy-of-worship deities. You have now become Brahmins. At this time, your last effort-making bodies are your most valuable ones. Each of you earns a lot of income while you are in it. You eat and drink with the unlimited Father. You too used to call out to Him. You don’t say: I eat with Krishna. You remember the Father. You say: You are the Mother and Father. A child continues to play with his father. You wouldn’t say that all of you are the children of Krishna. All souls are the children of the Supreme Father, the Supreme Soul. It is souls who say through their bodies: When You come, we will eat and play with You. We will do everything with You. You say: “BapDada.” Therefore, this is like a family. There are Bap, Dada and you children. This Brahma is an unlimited creator. The Father enters him and adopts him. He says to him: You are Mine. This is the mouth-born creation. A wife too is adopted. She too is a mouth-born creation. Her husband would say: You are mine. Then he creates a physical creation with her. From where did this system start? The Father says: I adopted this one. Through him, I adopt you. You are My children. However, this one is male. Therefore, Saraswati was also adopted in order to look after all of you. She was given the title of “Mother”. There is the River Saraswati. This river is the mother whereas the Father is the Ocean. This one has emerged from the Ocean. A huge gathering takes place where the River Brahmaputra meets the ocean. At no other place does such a large gathering take place. That is the gathering (mela) of rivers. This is the gathering (mela) of souls and the Supreme Soul, and it takes place when He enters a body. The Father says: I am Hussein. I enter this one every cycle. This is predestined in the drama. The whole world cycle is now in your intellects. Its duration is five thousand years. From this unlimited film, they create limited films. Whatever happened in the past then becomes the present. The present then becomes the future which is then called the past. How long does it take for it to become the past? How much time has passed since you came into the new world? Five thousand years. Each of you is now becoming a spinner of the discus of self-realisation. You explain that you were first Brahmins and that you then became deities. You children are now receiving your inheritance of the land of peace and the land of happiness from the Father. The Father comes and establishes three religions at the same time. Then He inspires the destruction of all the other religions. You have found the Satguru, the Father, who takes you back. You call out: Take us into salvation! Let this body die! Show me a way to shed my body and go to the land of peace. This is why people go to gurus. However, those gurus can’t enable you to leave your body and take you with them. Only the one Father is the Purifier. Therefore, when He comes, souls surely have to be made pure. Only the Father is called the Death of all Deaths, the Great Death. He makes everyone shed their bodies and takes them back home. That One is the Supreme Guide. He takes all souls back home. These bodies are dirty and we want to become free from the bondage of them. As we shed our bodies, we can become free from their bondage. You are now being released from devilish bondages and being taken into divine relationships of happiness. You know that you will go to the land of happiness via the land of peace. You also know how you will then come into the land of sorrow. The Father comes to make you beautiful from ugly. The Father says: I am also your true, obedient Father. A father is always obedient to his children. He serves them so much! He incurs so much expense to educate his children. Then he gives all his wealth and property to them and goes into the company of holy men. He makes his children more elevated than himself. This Father too says: I make you into double masters. You become the masters of the world and also the masters of Brahmand. You are worshipped in two ways; you are worshipped as souls and also worshipped as the deity clan. I am only worshipped in one way, in the form of a Shivalingam. I don’t become a king. I serve you so much! So, why do you forget such a Father? O souls, consider yourselves to be souls and remember Me so that your sins can be absolved. Whom have you come to? First Bap, the Father, and then Dada. First there is the Father and then the greatgreatgrandfather Adi Dev, Adam, because there are many generations. Would anyone call Shiv Baba the GreatGreatGrandfather? He makes you elevated in every respect. You have found such a Baba! So, why do you forget Him? How would you become pure if you forget Him? The Father shows you ways to become pure. Only by having this remembrance will the alloy be removed from you. The Father says: Sweetest, lovely children, renounce body consciousness and become soul conscious. You also have to become pure. Lust is the greatest enemy. Become pure in this one birth for My sake. A physical father would also say: Don’t perform any dirty acts. Maintain the honour of my beard. (Keep my honour.) The parlokik Father also says: I have come to purify you. Therefore, don’t make your face dirty, otherwise you will cause My honour to be lost; the honour of all Brahmins and the Father will be lost. Some write: Baba, I have fallen and dirtied my face. The Father says: I have come to make you beautiful and you have dirtied your face! In order to become ever beautiful you do have to some make effort. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Your last effort-making body is your most valuable one. You have to earn a lot of income with that body. Eat and drink with the unlimited Father and experience all relationships with Him.
  2. Don’t perform any such act through which the Brahmin family’s honour and the Father’s honour would be lost. Be soul conscious and become completely pure. By having remembrance remove all the old alloy from you, the soul.
Blessing: May you be a detached observer while seeing scenes of sorrow and peacelessness in the iron-aged world with unlimited disinterest.
Whatever may be happening in the iron-aged world, you are always in the ascending stage. For the world there are cries of distress, whereas for you there are cries of victory. You are not afraid of any situation because you have become ready in advance. You see all types of games as detached observers. Whether someone is crying or calling out loudly, there is pleasure in observing as a detached observer. Those who observe the scenes of sorrow and peacelessness of the iron-aged world as detached observers easily become those who have unlimited disinterest.
Slogan: Whatever type of land you want to prepare, as well as serving with words, also serve with your attitude.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 21 JULY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 21 July 2020

Murli Pdf for Print : – 

21-07-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – बाप तुम्हें पढ़ा रहे हैं खूबसूरत देवी-देवता बनाने, खूबसूरती का आधार है पवित्रता”
प्रश्नः- रूहानी शमा पर जो परवाने फिदा होने वाले हैं, उनकी निशानी क्या होगी?
उत्तर:- फिदा होने वाले परवाने:- 1. शमा जो है जैसी है उसे यथार्थ रूप से जानते और याद करते हैं, 2. फिदा होना माना बाप समान बनना, 3. फिदा होना माना बाप से भी ऊंच राजाई का अधिकारी बन जाना।
गीत:- महफिल में जल उठी शमा…….. 

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चों ने यह गीत की लाइन सुनी। यह कौन समझाते हैं? रूहानी बाप। वह शमा भी है। नाम ढेर के ढेर रखे हैं। बाप की स्तुति भी बहुत करते हैं। यह भी परमपिता परमात्मा की स्तुति है ना। बाप शमा बनकर आये हैं परवानों के लिए। परवाने जब शमा को देखते हैं तो उन पर फिदा हो शरीर छोड़ देते हैं। अनेक परवाने होते हैं जो शमा पर प्राण देते हैं। उसमें भी खास जब दीपमाला होती है, बत्तियाँ बहुत जलती हैं तो छोटे-छोटे जीव ढेर रात को मर जाते हैं। अब तुम बच्चे जानते हो हमारा बाबा है सुप्रीम रूह। उनको हुसैन भी कहा जाता है, बहुत खूबसूरत है क्योंकि वह एवर प्योर है। आत्मा प्योर बन जाती है तो उनको शरीर भी प्योर, नैचुरल सुन्दर मिलता है। शान्तिधाम में आत्मायें पवित्र रहती हैं फिर जब यहाँ आती हैं पार्ट बजाने तो सतोप्रधान से सतो, रजो, तमो में आती हैं। फिर सुन्दर से श्याम अर्थात् काली इमप्योर बन जाती हैं। आत्मा जब पवित्र है तो गोल्डन एजेड कही जाती है। उनको फिर शरीर भी गोल्डन एजेड मिलता है। दुनिया भी पुरानी और नई होती है। वही हसीन परमपिता परमात्मा, जिसको भक्तिमार्ग में बुलाते रहते हैं – हे शिवबाबा, वह निराकार परमपिता परमात्मा आया हुआ है। आत्माओं को इमप्योर से प्योर हसीन बनाने। ऐसे नहीं, आजकल जो बहुत खूबसूरत हैं, उनकी आत्मा पवित्र है। नहीं। भल शरीर खूबसूरत है फिर भी आत्मा तो पतित है ना। विलायत में कितने खूबसूरत बनते हैं। जानते हो यह लक्ष्मी-नारायण हैं सतयुगी खूबसूरत और यहाँ हैं हेल के खूबसूरत। मनुष्य इन बातों को नहीं जानते। बच्चों को ही समझाया जाता है यह है नर्क की खूबसूरती। हम अभी स्वर्ग के लिए नेचुरल सुन्दर बन रहे हैं। 21 जन्म के लिए ऐसे सुन्दर बनेंगे। यहाँ की खूबसूरती तो एक जन्म के लिए है। यहाँ बाबा आया हुआ है, सारी दुनिया के मनुष्य मात्र तो क्या दुनिया को भी खूबसूरत बनाते हैं। सतयुग नई दुनिया में थे ही खूबसूरत देवी-देवतायें। वह बनने के लिए अभी तुम पढ़ते हो। बाप को शमा भी कहते हैं परन्तु है परम आत्मा। जैसे तुमको आत्मा कहते हैं वैसे उनको परम आत्मा कहते हैं। तुम बच्चे बाप की महिमा गाते हो, बाप फिर बच्चों की महिमा करते हैं, तुमको ऐसा बनाता हूँ, जो मेरे से भी तुम्हारा मर्तबा ऊंच है। मैं जो हूँ, जैसा हूँ, जैसे मैं पार्ट बजाता हूँ यह और कोई नहीं जानते। अभी तुम बच्चे जानते हो कैसे हम आत्मायें पार्ट बजाने के लिए परमधाम से आती हैं। हम शूद्र कुल में थी फिर अब ब्राह्मण कुल में आई हैं। यह भी तुम्हारा वर्ण है और कोई धर्म वालों के लिए यह वर्ण नहीं हैं। उन्हों के वर्ण नहीं होते। उनका तो एक ही वर्ण है, क्रिश्चियन ही चले आते हैं। हाँ, उनमें भी सतो-रजो-तमो में आते हैं। बाकी यह वर्ण तुम्हारे लिए हैं। सृष्टि भी सतो-रजो-तमो में आती है। यह सृष्टि चक्र बेहद का बाप बैठ समझाते हैं। जो बाप ज्ञान का सागर, पवित्रता का सागर है, खुद कहते है मैं पुनर्जन्म नहीं लेता हूँ। भल शिव जयन्ती भी मनाते हैं परन्तु मनुष्यों को यह पता नहीं है कि कब आते हैं। उनकी जीवन कहानी को भी नहीं जानते। बाप कहते हैं मैं जो हूँ, जैसा हूँ, मेरे में क्या पार्ट है, सृष्टि चक्र कैसे फिरता है – यह तुम बच्चों को मैं कल्प-कल्प समझाता हूँ। तुम जानते हो, हम सीढ़ी उतरते-उतरते तमोप्रधान बने हैं। 84 जन्म भी तुम लेते हो। पिछाड़ी में जो आते हैं उनको भी सतो-रजो-तमो में आना ही है। तुम तमोप्रधान बनते हो तो सारी दुनिया तमोप्रधान बन जाती है। फिर तुमको तमोप्रधान से सतोप्रधान जरूर बनना है। यह सृष्टि चक्र फिरता रहता है। अभी है कलियुग उसके बाद फिर सतयुग आयेगा। कलियुग की आयु पूरी हुई। बाप कहते हैं मैंने साधारण तन में हूबहू कल्प पहले मुआफिक प्रवेश किया है फिर से तुम बच्चों को राजयोग सिखाने। योग तो आजकल बहुत हैं। बैरिस्टरी योग, इन्जीनियरी योग….। बैरिस्टरी पढ़ने के लिए बैरिस्टर के साथ बुद्धि का योग लगाना होता है। हम बैरिस्टर बन रहे हैं तो पढ़ाने वाले को याद करते हैं। उनको तो अपना बाप अलग है, गुरू भी होगा तो उनको भी याद करेंगे। तो भी बैरिस्टर के साथ बुद्धि का योग रहता है। आत्मा ही पढ़ती है। आत्मा ही शरीर द्वारा जज बैरिस्टर आदि बनती है।

अभी तुम बच्चे आत्म-अभिमानी बनने के संस्कार अपने में डालते हो। आधाकल्प देह-अभिमानी रहे। अब बाप कहते हैं देही-अभिमानी बनो। आत्मा में ही पढ़ाई के संस्कार हैं। मनुष्य आत्मा ही जज बनती है, अभी हम विश्व का मालिक देवता बन रहे हैं, पढ़ाने वाला है शिवबाबा, परम आत्मा। वही ज्ञान का सागर, शान्ति, सम्पत्ति का सागर है। यह भी दिखाते हैं सागर से रत्नों की थालियाँ निकलती हैं। यह है भक्ति मार्ग की बातें। बाप को रेफर करना पड़ता है। बाप समझाते हैं यह हैं अविनाशी ज्ञान रत्न। इन ज्ञान रत्नों से तुम बहुत साहूकार बनते हो और फिर हीरे जवाहर भी तुमको बहुत मिलते हैं। यह एक-एक रत्न लाखों रूपये का है जो तुमको इतना साहूकार बनाते हैं। तुम जानते हो भारत ही वाइसलेस वर्ल्ड था। उसमें पवित्र देवतायें रहते थे। अभी सांवरे अपवित्र बन गये हैं। आत्माओं और परमात्मा का मेला होता है। आत्मा शरीर में है तब ही सुन सकती है। परमात्मा भी शरीर में आता है। आत्माओं और परमात्मा का घर शान्तिधाम है। वहाँ चुरपुर कुछ भी नहीं होती है। यहाँ परमात्मा बाप आकर बच्चों से मिलते हैं। शरीर सहित मिलते हैं। वहाँ तो घर है, वहाँ विश्राम पाते हैं। अभी तुम बच्चे पुरूषोत्तम संगम युग पर हो। बाकी दुनिया कलियुग में है। बाप बैठ समझाते हैं भक्ति मार्ग में खर्चा बहुत करते हैं, चित्र भी बहुत बनाते हैं। बड़े-बड़े मन्दिर बनाते हैं। नहीं तो कृष्ण का चित्र घर में भी तो रख सकते हैं। बहुत सस्ते चित्र होते हैं फिर इतना दूर-दूर मन्दिरों में क्यों जाते। यह है भक्ति-मार्ग। सतयुग में यह मन्दिर आदि होते नहीं। वहाँ हैं ही पूज्य। कलियुग में हैं पुजारी। तुम अभी संगमयुग पर पूज्य देवता बन रहे हो। अभी तुम ब्राह्मण बने हो। इस समय तुम्हारा यह अन्तिम पुरूषार्थी शरीर मोस्ट वैल्युबुल है। इनमें तुम बहुत कमाई करते हो। बेहद के बाप के साथ तुम खाते पीते हो। पुकारते भी उनको हैं। ऐसे नहीं कहते – कृष्ण से खाऊं। बाप को याद करते हैं – तुम मात-पिता. . . बालक तो बाप के साथ खेलते रहते हैं। कृष्ण के हम सब बालक हैं, ऐसे नहीं कहेंगे। सभी आत्मायें परमपिता परमात्मा के बच्चे हैं। आत्मा शरीर द्वारा कहती है – आप आयेंगे तो हम आपके साथ खेलेंगे, खायेंगे सब कुछ करेंगे। तुम कहते ही हो बापदादा। तो जैसे घर हो गया। बापदादा और बच्चे। यह ब्रह्मा है बेहद का रचयिता। बाप इनमें प्रवेश कर इनको एडाप्ट करते हैं। इनको कहते हैं तुम मेरे हो। यह है मुख वंशावली। जैसे स्त्री को भी एडाप्ट करते हैं ना। वह भी मुखवंशावली ठहरी। कहेंगे तुम मेरी हो। फिर उनसे कुख वंशावली बच्चे पैदा होते हैं। यह रसम कहाँ से चली? बाप कहते हैं मैंने इनको एडाप्ट किया है ना। इन द्वारा तुमको एडाप्ट करता हूँ। तुम मेरे बच्चे हो। परन्तु यह है मेल। तुम सभी को सम्भालने के लिए फिर सरस्वती को भी एडाप्ट किया। उनको माता का टाइटिल मिला। सरस्वती नदी। यह नदी माता हुई ना। बाप सागर है। यह भी सागर से निकली हुई है। ब्रह्म-पुत्रा नदी और सागर का बहुत बड़ा मेला लगता है। ऐसा मेला और कहाँ लगता नहीं। वह है नदियों का मेला। यह है आत्माओं और परमात्मा का मेला। वह भी जब शरीर में आते हैं तब मेला लगता है। बाप कहते हैं मैं हुसैन हूँ। मैं इनमें कल्प-कल्प प्रवेश करता हूँ। यह ड्रामा में नूँध है। तुम्हारी बुद्धि में सारे सृष्टि का चक्र है, इनकी आयु 5 हज़ार वर्ष है। इस बेहद की फिल्म से फिर हद की फिल्म बनाते हैं। जो पास्ट हो गया सो प्रेजन्ट होता है। प्रेजन्ट फिर फ्युचर बनता है, जिसको फिर पास्ट कहा जायेगा। पास्ट होने में कितना समय लग गया। नई दुनिया में आये कितना समय पास्ट हुआ? 5 हज़ार वर्ष। तुम अभी हर एक स्वदर्शन चक्रधारी हो। तुम समझाते हो हम पहले ब्राह्मण थे फिर देवता बनें। तुम बच्चों को अभी बाप द्वारा शान्तिधाम सुखधाम का वर्सा मिलता है। बाप आकर के तीन धर्म इकट्ठा स्थापन करते हैं। बाकी सबका विनाश करा देते हैं। वापिस ले जाने वाला तुमको सतगुरू बाप मिला है। बुलाते भी हैं हमको सद्गति में ले जाओ। शरीर को खलास कराओ। ऐसी युक्ति बताओ जो हम शरीर छोड़ शान्तिधाम चले जायें। गुरू के पास भी मनुष्य इसीलिए जाते हैं। परन्तु वह गुरू तो शरीर से छुड़ाकर साथ में ले नहीं जा सकते। पतित पावन है ही एक बाप। तो वह जब आते हैं तो पावन जरूर बनना पड़े। बाप को ही कहा जाता है कालों का काल, महाकाल। सभी को शरीर से छुड़ाकर साथ ले जाते हैं। यह है सुप्रीम गाइड। सभी आत्माओं को वापिस ले जाते हैं। यह छी-छी शरीर है, इनके बंधन से छूटना चाहते हैं। कहाँ शरीर छूटे तो बंधन छूटे। अभी तुमको इन सब आसुरी बंधनों से छुड़ाकर सुख के दैवी सम्बन्ध में ले जाते हैं। तुम जानते हो हम सुखधाम में आयेंगे वाया शान्ति-धाम। फिर दु:खधाम में कैसे आते हो यह भी तुम जानते हो। बाबा आते ही हैं श्याम से सुन्दर बनाने। बाप कहते हैं मैं तुम्हारा ओबीडियन्ट सच्चा फादर भी हूँ। फादर हमेशा ओबीडियन्ट होता है। सेवा बहुत करते हैं। खर्चा कर पढ़ाकर फिर सब धन दौलत बच्चों को देकर खुद जाए साधुओं का संग करते हैं। अपने से भी बच्चों को ऊंच बनाते हैं। यह बाप भी कहते हैं मैं तुमको डबल मालिक बनाता हूँ। तुम विश्व का भी मालिक हो तो ब्रह्माण्ड का भी मालिक बनते हो। तुम्हारी पूजा भी डबल होती है। आत्माओं की भी पूजा होती है। देवता वर्ण में भी पूजा होती है। मेरी तो सिंगल सिर्फ शिवलिंग के रूप की पूजा होती है। मैं राजा तो बनता नहीं हूँ। तुम्हारी कितनी सेवा करता हूँ। ऐसे बाप को फिर तुम भूलते क्यों हो! हे आत्मा अपने को आत्मा समझ मुझे याद करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। तुम किसके पास आये हो? पहले बाप फिर दादा। अभी फादर फिर ग्रेट-ग्रेट ग्रैन्ड फादर आदि देव एडम क्योंकि बहुत बिरादियाँ बनती हैं ना। शिवबाबा को कोई ग्रेट-ग्रेट ग्रैन्ड फादर कहेंगे क्या? हर बात में तुमको बहुत ऊंच बनाते हैं। ऐसा बाबा मिलता है फिर उनको तुम भूलते क्यों हो? भूलेंगे तो पावन कैसे बनेंगे! बाप पावन बनने की युक्ति बतलाते हैं। इस याद से ही खाद निकलेगी। बाप कहते हैं – मीठे-मीठे लाडले बच्चे, देह-अभिमान छोड़ आत्म-अभिमानी बनना है, पवित्र भी बनना है। काम महाशत्रु है। यह एक जन्म मेरे खातिर पवित्र बनो। लौकिक बाप भी कहते हैं ना – कोई गंदा काम नहीं करो। मेरे दाढ़ी की लाज़ रखो। पारलौकिक बाप भी कहते हैं मैं पावन बनाने आया हूँ, अब काला मुँह मत करो। नहीं तो इज्ज़त गँवायेंगे। सभी ब्राह्मणों की और बाप की भी इज्ज़त गँवा देंगे। लिखते हैं बाबा हम गिर गया। काला मुँह कर दिया। बाबा कहते हैं मैं तुमको हसीन (सुन्दर) बनाने आया हूँ, तुम फिर काला मुँह करते हो। तुम्हें तो सदा हसीन बनने का पुरूषार्थ करना है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) यह अन्तिम पुरुषार्थी शरीर बहुत वैल्युबल है, इसमें बहुत कमाई करनी है। बेहद के बाप के साथ खाते, पीते……. सर्व सम्बन्धों की अनुभूति करनी है।

2) कोई भी ऐसा कर्म नहीं करना है जिससे ब्राह्मण परिवार की वा बाप की इज्ज़त जाये। आत्म अभिमानी बन पूरा पवित्र बनना है। याद से पुरानी खाद निकालनी है।

वरदान:- कलियुगी दुनिया के दु:ख अशान्ति का नज़ारा देखते हुए सदा साक्षी व बेहद के वैरागी भव
इस कलियुगी दुनिया में कुछ भी होता है लेकिन आपकी सदा चढ़ती कला है। दुनिया के लिए हाहाकार है और आपके लिए जयजयकार है। आप किसी भी परिस्थिति से घबराते नहीं क्योंकि आप पहले से ही तैयार हो। साक्षी होकर हर प्रकार का खेल देख रहे हो। कोई रोता है, चिल्लाता है, साक्षी होकर देखने में मजा आता है। जो कलियुगी दुनिया के दु:ख अशान्ति का नज़ारा साक्षी होकर देखते हैं वह सहज ही बेहद के वैरागी बन जाते हैं।
स्लोगन:- कैसी भी धरनी तैयार करनी है तो वाणी के साथ वृत्ति से सेवा करो।

TODAY MURLI 21 JULY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 21 July 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 20 July 2019:- Click Here

21/07/19
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
02/01/85

The most elevated love, relationship and service.

Today, BapDada was looking at all the children’s love-filled gifts. Each child’s love-filled gift of remembrance was of a different type. One BapDada received a large number of gifts from many children. No one in the world could receive such gifts – and so many. These gifts were from the hearts to the Comforter of Hearts. All human souls give physical gifts but, at the confluence age, the Father is unique and the gifts are unique. So, BapDada was pleased to see the gifts of love from all the children. There wasn’t a single child whose gift didn’t reach Baba. They definitely differed in value. Some children’s gifts were of greater value and other children’s of less value. The gift was valuable to the extent that the child had unbroken love in all relationships. The basis of each gift from the heart was their numberwise love and relationship. Both fathers were making a rosary of the valuable, numberwise gifts. Seeing the rosary, they were checking what the main reason was for the difference in value. So what did they see? All have love, all have a relationship, all do service, but in the subject of love, from the beginning up to now, your intellects should not have been attracted to any person or physical comforts in your thoughts or even your dreams. Are you constantly merged in constant and unbroken love of the one Father? Merge yourself in the ocean of experiences of love in such a way that, except for this world – the sky of unlimited love and the ocean of unlimited experiences – you are unable to see any other person or object. Except for this sky and ocean, let there be no other attractions. The gifts of love were valuable, numberwise, in this way. However many years have passed, the value of that many years of love has automatically continued to accumulate and the gift revealed to BapDada was of that much value. BapDada saw the speciality of three things in each one:

  • Unbroken love: is your love from the heart or is it according to the time because of a need, or to justify your own selfish motive? Is your love constantly emerged in your form or does it emerge according to the time and remain merged the rest of the time? Is it love that simply pleases the heart or is it deep love from the heart? Baba checked all of these things in the subject of love.
  • In relationship: firstly, are there all relationships or are there some particular relationships? If the experience of even one relationship is missing, there would then be something missing in your becoming complete and, from time to time, that missing relationship will attract you towards itself. For example, you have forged a special relationship with the Father, Teacher and Satguru, but if you haven’t forged a minor relationship of making Him your grandson, then that relationship would pull you to itself. So, in terms of relationships, do you have all relationships? Secondly, is every relationship with the Father 100% or is it 100% in certain relationships and 50% in other relationships, or is it numberwise? Is the relationship a full percentage or is the percentage distributed: a little alokik and a little lokik? Thirdly, do you experience the spiritual sweetness of all relationships constantly or do you only experience it when there is a need? Are you those who constantly take the sweetness of all relationships or is it only sometimes?
  • In service: what did Baba especially check in service? Firstly, the gross checking: have you accumulated in your account of all types of service, that is, through thoughts, words and deeds, and body, mind and wealth? Secondly, in these six ways – body, mind and wealth, thoughts, words and deeds – did you do as much as you were able to or did you not do as much as you could and only did what you could, according to your stage? One day, your stage was good and so the percentage of service was also good, but due to one reason or another, your stage was weak the next day and so the percentage of service was also weak. It wasn’t as much as it should have been, was it? Due to this reason, you become numberwise, according to your capacity.

Thirdly, you have received from the Father the treasures of knowledge, powers, virtues, happiness, elevated time and pure thoughts. Have you served with all these treasures or have you only served with some of these treasures? If you missed out on serving with even one of these treasures, or if you didn’t use the treasures generously, if you were miserly and only used them a little, it made a difference to the result.

Fourthly, did you do service from your heart or as a duty? Are you a flowing Ganges in service or are you sometimes flowing and sometimes stopping? Is it that you do service if you are in the moodand if you are not in the mood for it, you don’t do service? You are not such ponds who come to a standstill, are you?

Baba checked the value of each one according to these three subjects. So let each one of you also check yourself with the right method. In this New Year, have the determination to fill any gaps for all time, to become complete and place the number one valuable gift in front of the Father. You do know how to checkand then change, do you not? According to the result, the majority of you is performing according to your capacity in one or another subject. You are not embodiments of full power. Therefore, now let the past be the past and make the present and future complete and powerful.

You accumulate gifts and then check which gifts are valuable. BapDada was also playing the same game as the children. There were plenty of gifts. You all placed the best thought of all filled with zeal and enthusiasm according to your capacity, a powerful thought, in front of the Father. Now, instead of your being according to capacity, bring about the transformation of making it constantly powerful. Do you understand? Achcha.

To all those who are constantly loving – loving from the heart, loving in all relationships, to souls who have experienced spiritual sweetness, to those who are powerful with all treasures, to those who are constant servers, to those who transform themselves in all subjects from being according to capacity to being constantly powerful, to the especially loving and closely related souls, BapDada’s love, remembrance and namaste.

BapDada speaking to Dadi Janki:

The decoration of Madhuban has reached Madhuban. Welcome! You are the special decoration of BapDada and Madhuban. What happens when a special decoration comes? There is a sparkle. So BapDada and Madhuban are pleased to see the special decoration. You revealed the Father’s love and relationship in special service and this special service will bring everyone’s heart closer. The result is always good. Nevertheless, every moment has a result of its own speciality and so you did the special service of revealing the Father’s love with your loving face and eyes. To make them into those who listen to knowledge is not a big thing, but to make them loving is special service. You will always continue to do this. How many butterflies did you see? How many moths did you see who had the desire to surrender themselves to the Flame? Now is the special time to signal the moths to come to the Flame with the language of your eyes. They receive a signal and they will continue to follow. They will fly there. So this special service is essential and you have also done this service. This is the result, is it not? It is good that service of many souls is merged in every step. How many steps did you take? You served as many souls as you took steps. Your tour was good. It is also now the season for their zeal and enthusiasm. Whatever happens is the best of all. From the line of every act of the especially beloved children of BapDada, the line of action of many souls changes. So, you drew the line of fortune of many souls with the line of your every act. To follow means to draw their fortune. So, wherever you go, you continue to draw the line of fortune for many others with the pen of your actions. So the steps, that is, the actions themselves of the especially beloved children, become the instrument of service to draw the line of fortune. So, the last sound that now remains is, “This is it. This is it! This is the One for whom we have been searching!” At the moment, they wonder whether it is this one or that one. However, let only the one sound emerge: This is the One. That time is now coming close. Their intellects that are a little locked will also open as their line of fortune increases. The key has been applied, their locks have opened a little, but they are still stuck a little and that day will also come.

BapDada meeting teachers:

Teachers means those who are always full. So, you are those who experience fullness, are you not? When you yourselves are full of all treasures you will be able to serve others. When you yourself are not full, what would you give others? Servers means those who are full of all treasures. You always have the intoxication and happiness of being full. Not a single treasure is lacking. It isn’t that you have powers but no virtues or that you have virtues but no powers – it is not like that. You are full of all treasures. Whatever power you need, you invoke that power and it comes. That is called being full. Are you like this? Those who keep a balance of remembrance and service – not those who sometimes have more remembrance or sometimes perform more service – when you are equal in both and you keep a balance of the two, you then claim a right to the blessings of being full. Are you such servers? What aim have you kept? Full of all virtues. If even one virtue is lacking, you are not full. If even one power is lacking, you wouldn’t be called full. You should be constantly full and full in everything. Such ones are called worthy servers. Do you understand? Be full at every step. Such experienced souls are authorities of experience. Always experience the Father’s company.

BapDada meeting kumaris:

You are constantly lucky kumaris, are you not? Do you constantly experience the sparkling star of your fortune on your forehead? Is the star of fortune sparkling on your forehead? Or, is it going to sparkle? To belong to the Father means for the star to sparkle. So, have you become this or are you still thinking about making a deal? Are you those who are going to think about it or those who will do it in practice? Can your deal be cancelled if someone tries to cancel it? What would happen if you made another deal after having made a deal with the Father? In that case, you would have to look at your fortune. No one belongs to a poor person after belonging to a millionaire. Poor ones belong to the wealthy. Wealthy ones would not become poor. Are you so strong that, after belonging to the Father, your thoughts cannot be drawn anywhere else? To the extent that you stay in the Company, to that extent your colour will be fast. If your company is weak, the colour you are coloured with will be weak. Therefore, you need the company of both the study and service. You will then always remain firm and unshakeable; you will not fluctuate. When your colour is fast, so many centres can be opened with so many hands. Kumaris are those who are free from bondage. You will also end the bondages of others, will you not? You are those who make a constantly firm deal with the Father. When you have courage, you also receive the Father’s help. If you lack courage, you receive less help. Achcha.

Blessing: May you be royal beloved ones of the present and so of the future too, who receive God’s affection.
At the confluence age, only you fortunate children are worthy of receiving love and affection from the Comforter of Hearts. Only a handful out of multi-millions receive this love and affection from God. With this divine love and affection, you become royal beloved ones. Royal beloved ones means to be kings (royal) now and kings in the future too. Even before becoming that in the future, you have become self-sovereigns at this time. Just as the praise of the future kingdom is: “One kingdom, one religion”, in the same way, there is each soul’s kingdom that is united under one canopy, over all the physical senses.
Slogan: Those who show the Father’s character through their faces are the ones who are loved by God.

 

*** Om Shanti ***

Notice: Today is the third Sunday of the month, and so everyone will get together from 6.30 pm to 7.30 pm, have collective international yoga and stabilise in the awareness of your ancestor form with the Father, the Seed, and thereby do the service of giving love and power to the whole tree. Throughout the day, practise the self-respect: I am an ancestor soul.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 21 JULY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 21 July 2019

To Read Murli 20 July 2019 :- Click Here
21-07-19
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 02-01-85 मधुबन

सर्वोत्तम स्नेह, सम्बन्ध और सेवा

आज बापदादा सभी बच्चों की स्नेह भरी सौगातें देख रहे थे। हर एक बच्चे की स्नेह सम्पन्न याद सौगात भिन्न-भिन्न प्रकार की थी। एक बापदादा को, अनेक बच्चों की सौगातें अनेक संख्या में मिलीं। ऐसी सौगातें और इतनी सौगातें विश्व में किसी को भी मिल नहीं सकतीं। यह थी दिल की सौगातें दिलाराम को। और सभी मनुष्य आत्मायें स्थूल सौगात देते हैं। लेकिन संगमयुग में यह विचित्र बाप और विचित्र सौगातें हैं। तो बापदादा सभी के स्नेह की सौगात देख हर्षित हो रहे थे। ऐसा कोई भी बच्चा नहीं था – जिसकी सौगात नहीं पहुँची हो। भिन्न-भिन्न मूल्य की जरूर थी। किसी की ज्यादा मूल्य की थी, किसी की कम। जितना अटूट और सर्व सम्बन्ध का स्नेह था उतने वैल्यु की सौगात थी। नम्बरवार स्नेह और सम्बन्ध के आधार से दिल की सौगात थी। दोनों ही बाप सौगातों में से नम्बरवार मूल्यवान की माला बना रहे थे, और माला को देख चेक कर रहे थे कि मूल्य का अन्तर विशेष किस बात से है। तो क्या देखा? स्नेह सभी का है, सम्बन्ध भी सभी का है, सेवा भी सभी की है लेकिन स्नेह में आदि से अब तक संकल्प द्वारा वा स्वप्न में भी और कोई व्यक्ति या वैभव की तरफ बुद्धि आकर्षित नहीं हुई हो। एक बाप के एकरस अटूट स्नेह में सदा समाये हुए हों। सदा स्नेह के अनुभवों के सागर में ऐसा समाया हुआ हो जो सिवाए उस संसार के और कोई व्यक्ति वा वस्तु दिखाई न दे। बेहद के स्नेह का आकाश और बेहद के अनुभवों का सागर। इस आकाश और सागर के सिवाए और कोई आकर्षण न हो। ऐसे अटूट स्नेह की सौगात नम्बरवार वैल्युएबल थी। जितने वर्ष बीते हैं उतने वर्षों के स्नेह की वैल्यु आटोमेटिक जमा होती रहती है और उतनी वैल्यु की सौगात बापदादा के सामने प्रत्यक्ष हुई। तीन बातों की विशेषता सभी की देखी –

1. स्नेह अटूट है – दिल का स्नेह है वा समय प्रमाण आवश्यकता के कारण, अपने मतलब को सिद्ध करने के कारण है – ऐसा स्नेह तो नहीं है? 2. सदा स्नेह स्वरूप इमर्ज रूप में है वा समय पर इमर्ज होता बाकी समय मर्ज रहता है? 3. दिल खुश करने का स्नेह है वा जिगरी दिल का स्नेह है? तो स्नेह में यह सब बातें चेक की।

2. सम्बन्ध में – पहली बात सर्व सम्बन्ध है वा कोई-कोई विशेष सम्बन्ध है? एक भी सम्बन्ध की अनुभूति अगर कम है तो सम्पन्नता में कमी है और समय प्रति समय वह रहा हुआ एक सम्बन्ध भी अपनी तरफ आकर्षित कर लेता है। जैसे बाप शिक्षक सतगुरू यह विशेष सम्बन्ध तो जोड़ लिया लेकिन छोटा सा सम्बन्ध पोत्रा धोत्रा भी नहीं बनाया तो वह भी सम्बन्ध अपने तरफ खींच लेगा। तो सम्बन्ध में सर्व सम्बन्ध है?

दूसरी बात – बाप से हर सम्बन्ध 100 प्रतिशत है वा कोई सम्बन्ध 100 प्रतिशत है, कोई 50 प्रतिशत है वा नम्बरवार हैं? परसेन्टेज में भी फुल है वा थोड़ा अलौकिक, थोड़ा लौकिक, दोनों में परसेन्टेज में बांटा हुआ है?

तीसरा – सर्व सम्बन्ध की अनुभूति का रूहानी रस सदा अनुभव करते वा जब आवश्यकता होती है तब अनुभव करते? सदा सर्व सम्बन्धों का रस लेने वाले हैं वा कभी-कभी?

3. सेवा में – सेवा में विशेष क्या चेक किया होगा? पहली बात – जो मोटे रूप में चेकिंग है – मन, वाणी, कर्म वा तन-मन-धन सब प्रकार की सेवा का खाता जमा है? दूसरी बात – तन-मन-धन, मन-वाणी-कर्म इन 6 बातों में जितना कर सकते हैं उतना किया है वा जितना कर सकते हैं, उतना न कर यथा शक्ति स्थिति के प्रमाण किया है? आज स्थिति बहुत अच्छी है तो सेवा की परसेन्टेज भी अच्छी, कल कारण अकारण स्थिति कमजोर है तो सेवा की परसेन्टेज भी कमजोर रही है। जितना और उतना नहीं हुआ। इस कारण यथा शक्ति नम्बरवार बन जाते हैं।

तीसरी बात – जो बापदादा द्वारा ज्ञान का खजाना, शक्तियों का खजाना, गुणों का खजाना, खुशियों का खजाना, श्रेष्ठ समय का खजाना, शुद्ध संकल्पों का खजाना मिला है, उन सब खजानों द्वारा सेवा की है वा कोई-कोई खजाने द्वारा सेवा की है? अगर एक खजाने में भी सेवा करने में कमी की है वा फराखदिल हो खजानों को कार्य में नहीं लगाया है, थोड़ा बहुत कर लिया अर्थात् कन्जूसी की तो इसका भी रिजल्ट में अन्तर पड़ जाता है!

चौथी बात – दिल से की है वा ड्युटी प्रमाण की है सेवा की सदा बहती गंगा है वा सेवा में कभी बहना कभी रूकना। मूड है तो सेवा की, मूड नहीं तो नहीं की। ऐसे रुकने वाले तालाब तो नहीं है।

ऐसे तीनों बातों की चेकिंग प्रमाण हरेक की वैल्यु चेक की। तो ऐसे-ऐसे विधिपूर्वक हर एक अपने आपको चेक करो। और इस नये वर्ष में यही दृढ़ संकल्प करो कि कमी को सदा के लिए समाप्त कर सम्पन्न बन, नम्बरवन मूल्यवान सौगात बाप के आगे रखेंगे। चेक करना और फिर चेन्ज करना आयेगा ना। रिजल्ट प्रमाण अभी किसी न किसी बात में मैजारिटी यथाशक्ति है। सम्पन्न शक्ति स्वरुप नहीं है इसलिए अब बीती को बीती कर वर्तमान और भविष्य सम्पन्न, शक्तिशाली बनो।

आप लोगों के पास भी सौगातें इकट्ठी होती हैं तो चेक करते हो ना कौन-सी कौन-सी वैल्युएबल हैं। बाप-दादा भी बच्चों का यही खेल कर रहे थे। सौगातें तो अथाह थीं। हर एक ने अपने अनुसार अच्छे ते अच्छा उमंग उत्साह भरा संकल्प, शक्तिशाली संकल्प बाप के आगे किया है। अब सिर्फ यथाशक्ति के बजाए सदा शक्तिशाली – यह परिवर्तन करना। समझा। अच्छा!

सभी सदा के स्नेही, दिल के स्नेही, सर्व सम्बन्धों के स्नेही, रूहानी रस के अनुभवी आत्मायें, सर्व खजानों द्वारा शक्तिशाली, सदा सेवाधारी, सर्व बातों में यथाशक्ति को सदा शक्तिशाली में परिवर्तन करने वाले, विशेष स्नेही और समीप सम्बन्धी आत्माओं को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

दादी जानकी जी से – मधुबन का श्रृंगार मधुबन में पहुंच गया। भले पधारे। बापदादा और मधुबन का विशेष श्रृंगार हो, विशेष श्रृंगार से क्या होता है? चमक हो जाती है ना। तो बापदादा और मधुबन विशेष श्रृंगार को देख हर्षित हो रहे हैं। विशेष सेवा में बाप के स्नेह और सम्बन्ध को प्रत्यक्ष किया, यह विशेष सेवा सबके दिलों को समीप लाने वाली है। रिजल्ट तो सदा अच्छी है। फिर भी समय-समय की अपनी विशेषता की रिजल्ट होती है तो बाप के स्नेह को अपनी स्नेही सूरत से नयनों से प्रत्यक्ष किया यह विशेष सेवा की। सुनने वाला बनाना, यह कोई बड़ी बात नहीं है लेकिन स्नेही बनाना यह है विशेष सेवा। जो सदा होती रहेगी। कितने पतंगे देखे, शमा पर फिदा होने की इच्छा वाले कितने परवाने देखे? अभी नयनों की नज़र से परवानों को शमा की ओर इशारा करने का ही विशेष समय है। इशारा मिला और चलते रहेंगे। उड़ते-उड़ते पहुँच जायेंगे। तो यह विशेष सेवा आवश्यक भी है और की भी है। ऐसी रिजल्ट है ना। अच्छा है हर कदम में अनेक आत्माओं की सेवा समाई हुई है, कितने कदम उठाये? तो जितने कदम उतने ही आत्माओं की सेवा। अच्छा चक्र रहा। उन्हों के भी उमंग उत्साह की अभी सीजन है। जो होता है वह अच्छे से अच्छा होता है। बापदादा के मुरबी बच्चों के हर कर्म की रेखा से अनेकों के कर्मों की रेखा बदलती है। तो हर कर्म की रेखा से अनेकों की तकदीर की लकीर खींची। चलना अर्थात् तकदीर खींचना। तो जहाँ-जहाँ जाते हैं अपने कर्मों की कलम से अनेकों की तकदीर की लकीरें खींचते जाते। तो कदम अर्थात् कर्म ही मुरबी बच्चों के तकदीर की लकीर खींचने की सेवा के निमित्त बनें। तो अभी बाकी लास्ट आवाज है – “यही हैं, यही हैंˮ जिसको ढूँढते हैं वे यही हैं। अभी सोचते हैं – यह हैं वा वह हैं। लेकिन सिर्फ एक ही आवाज निकले यही हैं। अभी वह समय समीप आ रहा है। तकदीर की लकीर लम्बी होते-होते यह भी बुद्धि का जो थोड़ा सा ताला रहा हुआ है वह खुल जायेगा। चाबी तो लगाई है, खुला भी है लेकिन अभी थोड़ा सा अटका हुआ है, वह भी दिन आ जायेगा।

टीचर्स बहिनों के साथ:- टीचर्स अर्थात् सदा सम्पन्न। तो सम्पन्नता की अनुभूति करने वाली हो ना। स्वयं सर्व खजानों से सम्पन्न होंगे तब दूसरों की सेवा कर सकेंगे। अपने में सम्पन्नता नहीं तो दूसरे को क्या देंगे। सेवाधारी का अर्थ ही है सर्व खजानों से सम्पन्न। सदा भरपूरता का नशा और खुशी। कोई एक भी खजाने की कमी नहीं। शक्ति है, गुण नहीं। गुण हैं शक्ति नहीं – ऐसा नहीं, सर्व खजाने में सम्पन्न। जिस शक्ति का जिस समय आह्वान करें, शक्ति स्वरूप बन जाए – इसको कहा जाता है सम्पन्नता। ऐसे हो? जो याद और सेवा के बैलेंस में रहता है, कभी याद ज्यादा हो, कभी सेवा ज्यादा हो – नहीं, दोनों समान हो, बैलेंस में रहने वाले हो, वही सम्पन्नता की ब्लैसिंग के अधिकारी होते हैं। ऐसे सेवाधारी हो, क्या लक्ष्य रखती हो? सर्व खजानों से सम्पन्न, एक भी गुण कम हुआ तो सम्पन्न नहीं। एक शक्ति भी कम हुई तो भी सम्पन्न नहीं कहेंगे। सदा सम्पन्न और सर्व में सम्पन्न दोनों ही हो। ऐसे को कहा जाता है योग्य सेवाधारी। समझा। हर कदम में सम्पन्नता। ऐसे अनुभवी आत्मा अनुभव की अथॉरिटी है। सदा बाप के साथ का अनुभव हो।

कुमारियों से – सदा लकी कुमारियाँ हो ना। सदा अपना भाग्य का चमकता हुआ सितारा अपने मस्तक पर अनुभव करते हो। मस्तक में भाग्य का सितारा चमक रहा है ना कि चमकने वाला है? बाप का बनना अर्थात् सितारा चमकना। तो बन गये या अभी सौदा करने का सोच रही हो? सोचने वाली हो या करने वाली हो? कोई सौदा तुड़ाने चाहे तो टूट सकता है? बाप से सौदा कर फिर दूसरा सौदा किया तो क्या होगा? फिर अपने भाग्य को देखना पड़ेगा। कोई लखपति का बनकर गरीब का नहीं बनता। गरीब साहूकार का बनता है। साहूकार वाला गरीब नहीं बनेगा। बाप का बनने के बाद कहाँ संकल्प भी जा नहीं सकता – ऐसे पक्के हो? जितना संग होगा उतना रंग पक्का होगा। संग कच्चा तो रंग भी कच्चा इसलिए पढ़ाई और सेवा दोनों का संग चाहिए। तो सदा के लिए पक्के अचल रहेंगे। हलचल में नहीं आयेंगे। पक्का रंग लग गया तो इतने हैण्ड्स से इतने ही सेंटर खुल सकते हैं क्योंकि कुमारियाँ हैं ही निर्बन्धन। औरों का भी बन्धन खत्म करेंगी ना। सदा बाप के साथ पक्का सौदा करने वाली। हिम्मत है तो बाप की मदद भी मिलेगी। हिम्मत कम तो मदद भी कम। अच्छा – ओम् शान्ति।

वरदान:- परमात्म दुलार को प्राप्त करने वाले अब के सो भविष्य के राज दुलारे भव 
संगमयुग पर आप भाग्यवान बच्चे ही दिलाराम के दुलार के पात्र हो। यह परमात्म दुलार कोटों में कोई आत्माओं को ही प्राप्त होता है। इस दिव्य दुलार द्वारा राज दुलारे बन जाते हो। राजदुलारे अर्थात् अब भी राजे और भविष्य के भी राजे। भविष्य से भी पहले अब स्वराज्य अधिकारी बन गये। जैसे भविष्य राज्य की महिमा है एक राज्य, एक धर्म..ऐसे अभी सर्व कर्मेन्द्रियों पर आत्मा का एक छत्र राज्य है।
स्लोगन:- अपनी सूरत से बाप की सीरत दिखाने वाले ही परमात्म स्नेही हैं।

 

सूचना:-आज मास का तीसरा रविवार है, सभी संगठित रूप में सायं 6.30 से 7.30 बजे तक अन्तर्राष्ट्रीय योग में सम्मिलित हो, बीजरूप बाप के साथ अपने पूर्वज स्वरूप की स्मृति में स्थित रह पूरे वृक्ष को स्नेह और शक्ति की सकाश देने की सेवा करें। सारा दिन मैं पूर्वज आत्मा हूँ इस स्वमान में रहने का अभ्यास करें।

TODAY MURLI 21 JULY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 21 July 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 20 July 2018 :- Click Here

21/07/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, when you die, the world is dead for you. To belong to the Father means to break the consciousness of the body. No one except the one Father should be remembered.
Question: What slogan should you always remember as you see the final moments coming closer?
Answer: The wealth of some will remain buried, kings will take the wealth of some and the wealth of others will be looted….”. Always remember this sloganbecause mountains of sorrow are now about to fall and everyone will die. You children now sacrifice yourselves completely to the Father. Everything of yours is being used in a worthwhile way. You sacrifice yourselves for one birth and the Father sacrifices Himself to you for 21 births. For 21 births you will not need any inheritance from your physical mothers and fathers. Then, from the copper age onwards, you receive a reward according to your actions.
Song: I am just a small child and You are the Almighty.

Om shanti. Human beings understand that God is the Highest on High. God is always known as the Supreme Father, the Supreme Soul. His name is elevated and His place of residence is also elevated. He resides in the highest place of all, the supreme region. Now, since he is referred to as God, the Father, everyone must surely be His child. It cannot be said that we are the Father. In the notion of omnipresence, everyone becomes the Father. He is known as the Supreme Father, the Supreme Soul, the One who resides in the supreme region, the land far beyond. He is God, the Highest on High, which is why all the devotees remember Him. They even say: God has to come here to give the fruit of devotion to the devotees. That Father is the Creator of heaven, and so the Creatorwould definitely create the new world. So, where would He come? Would He come into the impure world or the pure world? Just see, this is an aspect that has to be imbibed very well. You are not small; the organs of your bodies are mature. You know that everyone remembers the Father. They understand that there is sorrow here. They say: “Take us to a place of peace and happiness.” According to the drama, the Father has to come. This drama is predestined; there can be no change within it. The cycle of the world history and geography continues to rotate. The four ages continue to rotate; the confluence age comes after the iron age. This is the age of charity, the benevolent age in between the iron age and the golden age. This is the most auspicious age, that is, it is the age to become the highest on high, to become those with the highest code of conduct. There is no other age as elevated at this one. The confluence of the golden and silver ages is not elevated; there is a loss of two degrees of happiness in that. The praise is of this confluence age. You understand that the Father is the Highest on High. It is not that He is omnipresent. Children make many mistakes, but these mistakes have to take place according to the drama. I come and free you from making mistakes. The Father says: You call Me God, the Highest on High, but I make you children even higher than Myself. This is why devotees remember Me. However, because of the concept of omnipresence, they have put Me in the dust and they themselves have become poverty-stricken and unhappy. Bharat was the land of happiness. It has now become the land of sorrow. The Father says: I now make you even higher than Myself. I reside in the supreme region (Paramdham), in Brahmand, the element of light. You also reside there, but you come down here to play your part s. You understand that Brahmins are the highest on high, the topknot. Therefore, what symbol can be used for Shiv Baba, the Highest on High? He is a s tar. As is a soul, so the Supreme Soul. A soul is a sparkling star in the middle of the forehead. The form of a soul is that of a star. This is a predestined drama. All souls reside in Brahmand, the element of light, in the incorporeal tree, which is also called the land of nirvana. Souls come from the incorporeal world, the sweet home. It is now the land of sorrow. There are so many partitions. There were no partitions in the golden age. Bharat was the most elevated land. Baba is called the Truth. Baba says: I come to establish the land of truth. Therefore, surely the new world has to be created and the old world destroyed. Mountains of sorrow are now about to fall. The wealth of some will remain buried….. They also understand that by creating bombs and showing each other a stern eye, everything will ultimately be destroyed. However, they don’t realize who is inspiring them to make such things. It is mentioned in the Gita that missiles emerged from their stomachs. All of that is a question of the intellect. They make bombs in order to destroy their own nation. There are three armies: Yadavas, Kauravas and Pandavas. The Yadavas and the Kauravas fight each other and destroy themselves. There is no fighting between the Pandavas and the Kauravas. You do not battle with anyone; you are Raj Rishis who have the power of yoga. Sannyasis are hatha yogi rishis. Those versions were spoken by Shankaracharya, and these versions are spoken by Shivacharya (Shiva the Teacher). It would not be said Krishnacharya (Krishna, the teacher). He is now taking knowledge in order to become Shri Krishna once again. That kingdom is now being established. You are becoming divine flowers from impure thorns. You also heard in the song: Come and uplift us sinners who are as bad as Ajamil. It is said that the Purifier is also the Satguru, the One who transforms you from ordinary man into Narayan and makes you into the kings of kings. This is your aim and objective. This is a school in which we become Narayan from ordinary man and Lakshmi from an ordinary woman. There is no question of blind faith in this. There is an aim and objective in schools. You have come to the Father in order to claim your unlimited inheritance. You have to claim your inheritance of that place here. That is the land of happiness. This is the land of sorrow. You heard in the song, “I am a small child.” You are children. Some are 25 years old and some are 20 years old. Baba says: Even a child of one day can claim the inheritance. The unlimited Father has come to make Bharat like a diamond once again. In the golden age, there were so many palaces of diamonds and jewels, don’t even ask! Then, when the path of devotion began, the impure kings created temples like Somnath. The kings too had temples. Nowadays, they continue to build many temples. Who would have built the main temple? It must have been those who became worshippers from being worthy of worship who built it. The praise “The soul is a worshipper and worthy of worship” does not apply to the Supreme Father, the Supreme Soul. His praise is unique. The praise of every human being is different. The highest praise is of the Father through whom you receive the inheritance for 21 births. Then, from the copper age onwards, you become children of your physical fathers, and you take birth according to the actions you perform. By donating wealth, you receive an inheritance of temporary happiness for one birth. Kings too become ill. You do not become ill in the golden age. Your average lifespan will be 150 years. There, you remain so healthy. There, there is no trace of sickness or sorrow. Shiv Baba brings a gift for you children. This is known as heaven on the palm of His hand. You have to make effort, no matter whether you belong to the sun dynasty or the moon dynasty, or whether you become a wealthy subject. You have the aim and objective to become like Krishna. However, Krishna never spoke these versions. These are the versions of God. It has been explained that this is the sacrificial fire of the knowledge of Rudra in which you claim self-sovereignty. Many tall stories have been written in the scriptures. By sacrificing yourselves to the Father, the Father sacrifices Himself to you for 21 births. He makes you children the highest of all. Those who reside in the brahm element are the masters of the brahm element. You become the masters of the world; I do not become the master of the world. I come in order to make you that. You called out: O Purifier come! Come and purify us! In that case, how could He be omnipresent? Only the one Father is the Purifier and the One who grants salvation to all. At this time, everyone has become tamopradhan. Everyone has to pass through the stages of sato, rajo and tamo. To begin with, everything is satopradhan and it then becomes tamopradhan. In the golden age, deities are satopradhan and then, in the silver age, they become sato warriors of the kingdom of Rama. After that, they become rajo merchants and then tamo shudras. There are the different castes. The variety-form image portrays deities, warriors, merchants and shudras. However, they have omitted the Father and the Brahmins. You Brahmins are even higher than the deities because you perform elevated service of Bharat. You are following shrimat. You receive the most elevated, the highest-on-high, instructions from God, from Shri Shri Shiv Baba, through which you become Shri Lakshmi and Shri Narayan. Then, when Maya enters you, you become devilish. Baba comes every cycle and explains to you in this way. Baba has placed the urn of knowledge on the heads of the mothers in order to change humans into deities. Sannyasis consider women to be the gateway to hell. They defame them and then they go to those same mothers and beg for alms. Therefore, that debt increases. This is why they have to take rebirth in a household and renounce everything again. How could there be so many sannyasis if they didn’t take rebirth? Bharat was pure; it was called the completely viceless world. People go in front of deity idols and sing their praise: “You are full of all divine virtues”, whereas they say of themselves: We are virtueless. We have no virtue. “You are full of all virtues.” This praise does not belong to Shiv Baba. It applies to the deities; but, because of not having full knowledge, they sing this praise in front of Rama and Sita. They celebrate the birthday of Shiva, but they do not understand anything. Therefore, the Father says: Your third eye of knowledge is now opening. Deities do not have a third eye. In the pictures, deities are shown with a third eye. That, in fact, belongs to you. However, the third eye of some opens and then closes again. They listen to this knowledge and become amazed. They like the knowledge and relate it to others. Then they run away. Many good children are defeated by Maya. The Father inspires you to battle with the five vices and gain victory over them. Otherwise, there is no other battle. You now belong to the clan of Brahma and you will later become deities. You have now come from the shudra clan into the Brahmin clan. At this time, the cycle of the whole world is in your intellects. This play is about to end. The Father has now come to take you back. Maya has made everyone impure. The Father says: Now become conquerors of sinful actions with the fire of yoga. This requires effort. You don’t need to do anything other than to remember the Father: Baba, we were Yours. You sent us into the golden age, where we continued to take rebirth. Then we entered the silver age and continued to take rebirth. The Father also tells this one: You did not know of your births. I am telling you how human beings take 84 births. There is no question of 8.4 million births. The duration of the cycle is only 5000 years. Those scriptures put you into a deep sleep. The Father has now awakened you. After waking up, you claim your inheritance from the Father. You are small children; some are three months old and some are four months old. When you belong to God, you die and the world is dead for you. When you belong to Baba your body consciousness breaks. The Father says: While living in your bodies, while living at home with your families, remain like a lotus. In the golden age, your relationships were pure. Then, you became those who belong to the impure household religion. It is you, who belonged to the deity religion, who take 84 births. You are also the ones who start performing devotion. You are the ones who become worshippers from being worthy of worship. In the beginning, your devotion was unadulterated. Devotion has now become adulterated. Once again, you are to receive your inheritance from the Father. He has to come at the confluence age. They speak of God coming in every age. In that case, they should specifically say four ages. How can they say that there are 24 incarnations into a fish and an alligator etc.? God is one. The Creator is one and His creation is also one. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to claim self-sovereignty, sacrifice yourself to the Father. Constantly keep your aim and objective in front of you. Make effort to become part of the sun dynasty.
  2. Constantly keep open your third eye of knowledge which you have received from the Father. Pay total attention so that Maya doesn’t enter you. Become a conqueror of sinful actions with the fire of yoga.
Blessing: May you be successful in every task and become an embodiment of success with the power of your thoughts.
With the power of your thoughts, many tasks are experienced to be easily successful. Just as you can see the various stars in the physical sky, similarly, in the atmosphere of the sky of the world, sparkling stars of success will be visible when your thoughts are elevated and powerful, when you are constantly lost in the depths of the one Father and your spiritual eyes and spiritual image become a divine mirror. Only such a divine mirror is an image of success that enables many souls to experience the soul-conscious form.
Slogan: Those who constantly experience Godly happiness are carefree emperors.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 21 JULY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 21 July 2018

To Read Murli 20 July 2018 :- Click Here
21-07-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – आप मुये मर गई दुनिया, बाप का बनना अर्थात् देह-अभिमान टूटना, एक बाप के सिवाए और कुछ भी याद न आये”
प्रश्नः- अन्त का समय समीप देखते हुए कौन-सा स्लोगन सदा याद रखना है?
उत्तर:- ”किनकी दबी रहेगी धूल में, किनकी राजा खाए……..” – यह स्लोगन सदा याद रखो क्योंकि अभी दु:ख के पहाड़ गिरने हैं, सबका मौत होना है। तुम बच्चे तो अभी बाप पर पूरा बलि चढ़ते हो, तुम्हारा सब-कुछ सफल हो रहा है। तुम एक जन्म बलि चढ़ते, बाप 21 जन्मों के लिए बलिहार जाता है। 21 जन्म तुम्हें लौकिक माँ-बाप के वर्से की दरकार नहीं। द्वापर से फिर जैसा कर्म वैसा फल मिलता है।
गीत:- मैं एक नन्हा सा बच्चा हूँ…….. 

ओम् शान्ति। यह तो मनुष्य मात्र जानते हैं कि ऊंच ते ऊंच भगवान् है। भगवान् को हमेशा परमपिता परमात्मा कहते हैं और उनका ऊंचा नाम भी है, ऊंचा ठांव भी है। सबसे ऊंच मूलवतन में रहते हैं। अब जबकि गॉड फादर कहते हैं तो जरूर बच्चे ही ठहरे। ऐसे तो नहीं कह सकते हम फादर हैं। सर्वव्यापी कहने से तो सब फादर हो जाते। उनको तो हमेशा परे ते परे परमधाम में रहने वाला परमपिता परमात्मा कहा जाता है। ऊंच ते ऊंच भगवत, इसलिए सब भक्त उनको याद करते हैं। कहते भी हैं – भगवान् को ही भक्तों को भक्ति का फल देने यहाँ आना पड़ेगा। वह बाप है स्वर्ग का रचयिता। क्रियेटर जरूर नई दुनिया ही रचेंगे। तो वह आयेगा कहाँ? क्या पतित दुनिया में वा पावन दुनिया में? देखो, यह बात अच्छी रीति धारण करने की है। तुम कोई छोटे नहीं हो। शरीर के आरगन्स तो बड़े हैं ना। तुम जानते हो सभी बाप को याद करते हैं, समझते हैं यहाँ दु:ख है। हमको ऐसी जगह ले चलो, जहाँ शान्ति-सुख हो। ड्रामा अनुसार बाप को आना ही है। बनी बनाई बन रही…. इसमें कोई फ़र्क नहीं हो सकता। वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी चक्र लगाती रहती है। 4 युग फिरते रहते हैं। कलियुग के बाद होता है संगमयुग, कलियुग और सतयुग के बीच का यह है कल्याणकारी धर्माऊ युग। यह है पुरुषोत्तम युग अर्थात् उत्तम ते उत्तम, मर्यादा पुरुषोत्तम बनने का युग। इस युग जैसा उत्तम युग कोई होता नहीं। सतयुग-त्रेता का संगमयुग कोई ऊंच नहीं है। उसमें तो दो कला सुख की कम होती हैं। इस संगमयुग की ही महिमा है। तुम जानते हो बाप तो है ऊंच ते ऊंच। ऐसे नहीं कि सर्वव्यापी है। बच्चे कितनी भूल करते हैं परन्तु भूल भी ड्रामा अनुसार होनी ही है। मैं फिर आकर अभुल बनाता हूँ। बाप कहते है मुझे तुम ऊंच ते ऊंच भगवत कहते हो मैं फिर तुम बच्चों को अपने से भी ऊंच बनाता हूँ, तब तो भक्त याद करते हैं। लेकिन सर्वव्यापी कहने से मिट्टी में मिला दिया है। तो खुद भी ऐसे कंगाल दु:खी हो गये हैं। भारत सुखधाम था। अब दु:खधाम है। अब बाप कहते हैं मैं तुमको अपने से भी ऊंच बनाता हूँ। मैं तो परमधाम ब्रह्माण्ड में रहता हूँ। तुम भी वहाँ रहते हो फिर यहाँ आते हो पार्ट बजाने। जानते हो ब्राह्मण हैं ऊंचे ते ऊंच चोटी। तो ऊंचे ते ऊंच शिवबाबा की क्या निशानी रखेंगे? वह तो एक स्टॉर है। जैसे आत्मा वैसे परमात्मा। चमकता है भ्रकुटी के बीच में अज़ब सितारा। आत्मा का रूप है ही स्टार। यह बना-बनाया ड्रामा है। इसमें सभी आत्मायें ब्रह्माण्ड, निराकारी झाड़ में रहती हैं जिसको निर्वाणधाम कहा जाता है। आत्मायें निराकारी दुनिया स्वीटहोम से आती हैं। अभी तो दु:खधाम है। कितने पार्टीशन हैं! सतयुग में कोई पार्टीशन नहीं था। भारत ही ऊंच खण्ड था। बाबा को सत्य (ट्रूथ) कहा जाता है। बाबा कहते हैं मैं सचखण्ड स्थापन करने आता हूँ तो जरूर नई दुनिया स्थापन कर, पुरानी दुनिया को मिटाना पड़े ना। अभी दु:ख के तो पहाड़ गिरने वाले हैं। किनकी दबी रहेगी धूल में….। वह भी समझते हैं कि हम जो बाम्ब्स बनाए आपस में आंख दिखाते हैं तो आखिर ख़ात्मा तो जरूर होना है। परन्तु पता नहीं कौन प्रेरक है जो ऐसी चीज़ बनवा रहे हैं। गीता में भी है कि पेट से मूसल निकले। यह है सारी बुद्धि की बातें। बाम्ब्स निकालते हैं अपने नेशन का विनाश करने। यादव, कौरव, पाण्डव – तीन सेनायें हैं ना। यादव-कौरव लड़कर खत्म हुए। बाकी कौरव-पाण्डवों की कोई लड़ाई नहीं होती। तुम्हारी कोई से युद्ध नहीं। तुम हो योगबल वाले राजऋषि। सन्यासी हैं हठयोग ऋषि। वह शंकराचार्य, यह शिवाचार्य। कृष्ण आचार्य नहीं कहेंगे। वह अब नॉलेज ले रहा है फिर सो श्रीकृष्ण बनने के लिए। यह राजधानी स्थापन हो रही है। तुम पतित कांटों से दैवी फूल बन रहे हो।

गीत में भी सुना – आओ, अजामिल जैसे पापियों का उद्धार करो। गाया भी जाता है पतित पावन, वही सतगुरू है। जो तुमको नर से नारायण, राजाओं का राजा बनाते हैं। यह है एम आब्जेक्ट। यह पाठशाला है ना। इसमें हम नर से नारायण, नारी से लक्ष्मी बनते हैं। इसमें अन्धश्रधा की बात नहीं। स्कूलों में एम आब्जेक्ट होती है ना। तुम बाप के पास आये हो बेहद का वर्सा लेने। वहाँ का वर्सा यहाँ लेना होता है। वह है ही सुखधाम। यह है दु:खधाम। गीत में सुना – मैं छोटा-सा बच्चा हूँ….। तुम बच्चे हो ना। कोई 25 वर्ष का, कोई 20 वर्ष का। बाबा कहते है – एक दिन का बच्चा भी वर्सा ले सकता है। बेहद का बाप फिर भारत को हीरे जैसा बनाने आया है। सतयुग में कितने हीरों-जवाहरों के महल थे! बात मत पूछो! फिर जब भक्ति मार्ग शुरू होता है तो पतित राजायें बैठ सोमनाथ जैसा मन्दिर बनाते हैं। राजाओं के पास मन्दिर होते हैं। आजकल तो बहुत ही मन्दिर बनाते रहते है। सबसे मुख्य मन्दिर किसने बनाया होगा! जो पूज्य से पुजारी बनते हैं जरूर उन्होंने ही बनाया होगा। आप ही पूज्य आप ही पुजारी – यह महिमा परमपिता परमात्मा की नहीं है। उनकी महिमा तो सबसे न्यारी है। हर एक मनुष्य की महिमा अलग होती है। ऊंचे ते ऊंच महिमा है बाप की, जिससे तुम 21 जन्मों का वर्सा पाते हो। फिर द्वापर से लेकर तुम लौकिक बाप का बच्चा बन जैसे-जैसे कर्म करते हो ऐसा जन्म लेते हो। धन दान करने से एक जन्म अल्पकाल सुख का वर्सा मिल जाता है। राजायें भी तो रोगी बनते हैं ना। स्वर्ग में तुम रोगी नहीं बनते हो। तुम्हारी एवरेज 150 वर्ष आयु रहती है। कितने हेल्दी रहते हो। बीमारी, दु:ख आदि का नाम नहीं। शिवबाबा बच्चों के लिए सौगात ले आते हैं, इसको हथेली पर बहिश्त कहा जाता है। पुरुषार्थ करना चाहिए – चाहे सूर्यवंशी बनो, चाहे चन्द्रवंशी बनो, चाहे साहूकार प्रजा। एम आब्जेक्ट तो है – कृष्ण जैसा बनना। बाकी कृष्ण वाच तो कभी हुआ नहीं है। यह है भगवानुवाच। समझाया जाता है – यह है रूद्र ज्ञान यज्ञ। राजस्व अर्थात् स्वराज्य प्राप्त करने के लिए। शास्त्रों में तो बड़ी कहानी लिख दी है। बाप पर बलि चढ़ने से बाप फिर 21 जन्म बलि चढ़ते है। बाप तुम बच्चों को ऊंचे ते ऊंच बनाते हैं। ब्रह्माण्ड में रहने वाले, ब्रह्माण्ड के मालिक ठहरे ना। फिर तुम विश्व के मालिक बनते हो, मैं विश्व का मालिक नहीं बनता हूँ। तुमको बनाने के लिए आता हूँ।

तुम कहते भी हो – पतित-पावन आओ, आकर पावन बनाओ। फिर सर्वव्यापी कैसे ठहरा? सद्गति दाता पतित-पावन तो एक ही बाप है। इस समय सभी तमोप्रधान बन गये हैं। सतो-रजो-तमो से सबको पास करना ही है। हर चीज़ पहले सतोप्रधान होती है फिर तमोप्रधान बनती है। सतयुग में भी देवी-देवतायें सतोप्रधान फिर त्रेता में सतो; राम राज्य; क्षत्रिय, फिर रजो में वैश्य, तमो में शूद्र, वर्ण भी हैं ना। विराट रूप में देवता, क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र दिखाते हैं। बाप और ब्राह्मण गुम कर देते हैं। तुम ब्राह्मण देवताओं से भी ऊंच हो क्योंकि तुम भारत की ऊंच सेवा करते हो। तुम हो श्रीमत पर। श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ, ऊंच ते ऊंच भगवान् की मत मिलती है जिससे तुम भी श्री लक्ष्मी-नारायण बनते हो, श्री श्री शिवबाबा द्वारा। फिर माया का प्रवेश होता है तो तुम आसुरी बन पड़ते हो। कल्प-कल्प बाबा ऐसे आकर समझाते हैं। बाबा ने ज्ञान का कलष तुम माताओं पर रखा है – मनुष्य से देवता बनाने। सन्यासी तो माताओं को नर्क का द्वार समझते हैं, निंदा करते हैं फिर आकर उन्हीं माताओं से भीख मांगते है, तो फिर कर्जा चढ़ जाता है इसलिए पुनर्जन्म फिर भी गृहस्थियों पास ले फिर सन्यास करते है। पुनर्जन्म नहीं लेते तो फिर इतने ढेर सन्यासी कहाँ से आते?

भारत पवित्र था, सम्पूर्ण निर्विकारी दुनिया कहा जाता है। बरोबर देवताओं के आगे महिमा गाते हैं – आप सर्वगुण सम्पन्न…….. फिर अपने को कहते है – मैं निर्गुण हारे में कोई गुण नाहीं। सर्वगुण सम्पन्न – यह शिवबाबा की महिमा नहीं है, यह देवताओं की महिमा है। परन्तु पूरा ज्ञान न होने कारण राम-सीता के आगे भी यह महिमा कर देते। शिव जयन्ती मनाते हैं परन्तु समझते कुछ भी नहीं हैं। तो बाप कहते हैं – तुम्हारा अब ज्ञान का तीसरा नेत्र खुलता है। देवताओं को तीसरा नेत्र होता नहीं। चित्रों में देवताओं को दिखाते हैं परन्तु वास्तव में है तुम्हारा। परन्तु तीसरा नेत्र खुला फिर बन्द भी हो जाता है। आश्चर्यवत सुनन्ती, पशन्ती, औरों को सुनावन्ती फिर भी भागन्ती हो जाते हैं। बहुत अच्छे-अच्छे बच्चे माया से हारते हैं। बाप युद्ध कराते हैं 5 विकारों पर जीत पहनाने लिए। बाकी और युद्ध तो है नहीं। तुम अभी हो ब्रह्मा वंशी, फिर देवता बनेंगे। अभी शूद्र से ब्राह्मण वर्ण में आये हो। इस समय सृष्टि का चक्र पूरा बुद्धि में है। नाटक पूरा होता है। बाप ले चलने लिए आये हैं। माया ने सबको पतित बनाया है। अब बाप कहते है – योग अग्नि से तुम विकर्माजीत बनो, इसमें मेहनत है। और कुछ करना नहीं है, बाप को याद करना है। बाबा हम आपके थे। आपने हमको फिर सतयुग में भेजा, पुनर्जन्म सतयुग में लेते रहे। फिर त्रेता में आये तो पुनर्जन्म त्रेता में लिये। इसको भी बाप कहते हैं – तुम अपने जन्मों को नहीं जानते हो, हम बताते हैं। मनुष्य 84 जन्म कैसे लेते है? 84 लाख की तो बात ही नहीं हो सकती। कल्प की आयु ही 5 हजार वर्ष है। इन शास्त्रों ने तुम्हें घोर नींद में सुला दिया था। अब बाप ने तुमको जगाया है। तुम जागकर बाप से वर्सा ले रहे हो। तुम छोटे बच्चे हो, कोई 3 मास का, कोई 4 मास का। तुम ईश्वर के बनते हो तो फिर आप मुये मर गई दुनिया। बाबा का बनते हो तो देह-अभिमान टूट जाता है। बाप कहते है – शरीर में रहते हुए, गृहस्थ व्यवहार में रहते हुए कमल फूल समान रहना है। सतयुग में तुम पवित्र सम्बन्ध में थे। अब अपवित्र गृहस्थ धर्म वाले बने हो। तुम देवी-देवता धर्म वाले ही 84 जन्म लेते हो। भक्ति भी तुम शुरू करते हो। पूज्य से पुजारी तुम बनते हो। पहले तुमने अव्यभिचारी भक्ति की, अब भक्ति भी व्यभिचारी बन पड़ी है। फिर तुमको बाप से वर्सा मिलता है। बाप को आना भी संगमयुग पर होता है। युगे-युगे कहने से करके 4 युग कहो ना। फिर 24 अवतार – कच्छ-मच्छ अवतार कैसे हो सकेंगे? गॉड इज वन, रचयिता भी एक है तो उनकी रचना भी एक है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) स्वराज्य के लिए बाप पर बलि चढ़ना है। एम-ऑब्जेक्ट सदा सामने रखनी है। पुरुषार्थ कर सूर्यवंशी बनना है।

2) बाप से जो ज्ञान का तीसरा नेत्र मिला है, वह सदा खुला रहे। माया की प्रवेशता न हो जाए इसका पूरा ध्यान रखना है। योग अग्नि से विकर्माजीत बनना है।

वरदान:- संकल्प शक्ति द्वारा हर कार्य में सफल होने की सिद्धि प्राप्त करने वाले सफलतामूर्त भव
संकल्प शक्ति द्वारा बहुत से कार्य सहज सफल होने की सिद्धि का अनुभव होता है। जैसे स्थूल आकाश में भिन्न-भिन्न सितारे देखते हो ऐसे विश्व के वायुमण्डल के आकाश में चारों ओर सफलता के चमकते हुए सितारे तब दिखाई देंगे जब आपके संकल्प श्रेष्ठ और शक्तिशाली होंगे, सदा एक बाप के अन्त में खोये रहेंगे, आपके यह रूहानी नयन, रूहानी मूर्त दिव्य दर्पण बनेंगे। ऐसे दिव्य दर्पण ही अनेक आत्माओं को आत्मिक स्वरूप का अनुभव कराने वाले सफलतामूर्त होते हैं।
स्लोगन:- निरन्तर ईश्वरीय सुखों का अनुभव करने वाले ही बेफिक्र बादशाह हैं।

TODAY MURLI 21 July 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 20 July 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 20 July 2017 :- Click Here

21/07/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, there is no pleasure in this old world and old body. Therefore, die alive to it, belong to the Father and become true moths.
Question: What is the fashion of the confluence age?
Answer: It is only at this confluence age that you children, while sitting here, go on a tour to your in-laws’ home, Paradise. This is the fashion of the confluence age. Only at this time is the secret of the subtle region revealed.
Question: With which method can you easily forget poverty and sorrow?
Answer: Practise being bodiless and you will forget poverty and sorrow. The Father only comes to the poor children to make them wealthy. Only the poor children are adopted by the Father.
Song: The Flame has ignited in the happy gathering of moths.

Om shanti. Souls have love for their parlokik Father, the Supreme Father, the Supreme Soul. You know that Baba will take you away from here. When the soul of someone is about to leave his body, people try to prevent him leaving, as they have shown in the story of Satyavan Savitri. She was so attached to that soul that she wanted him to come back into the body. However, she didn’t have knowledge. You have knowledge. Each one of us loves that Supreme Father, the Supreme Soul. Why is that love created? In order to die. This love for the Father is very good. Souls have been stumbling around on the path of devotion for half the cycle, wanting to go to their home, the land of peace. It is truly like this. The Father says: Become bodiless! Die! When the soul separates from the body, it is called dying. The Father explains: Children, die to this world, that is, die to this bondage, that is, belong to Me. There is no pleasure in this old world and these old bodies. This is a very dirty world. It truly is the depths of hell. You children are told: Now, belong to Me! I have come to take you to the land of happiness where there is no mention of sorrow. Therefore, become moths and surrender to this Flame in happiness. Moths come flying in happiness. Some moths are such that they take birth when there is light and when the light is extinguished, they die. At the Festival of Lights (Deepmala), there are so many tiny green-coloured flies. They surrender themselves to the light. As soon as the light goes out, they die. That One is the great Flame. The Father says: You, too, surrender yourselves like moths. You are living human beings; therefore, renounce all bodily bondages while you are alive. Consider yourselves to be souls and have yoga with Me. Stay in happiness and the awareness of those bodies will then be renounced. I, the soul, am leaving this world and going to our home. This world now is of no use. Therefore, don’t attach your hearts to it. There are many poor people in the world. Generally, it is the poor who are unhappy. The Father says: Children, now become bodiless! We souls are residents of that land of peace. Without becoming pure, no one can go to that land of peace. At this time, everyone’s wings are broken. The wings of those who consider themselves to be God are the most broken. So, where would they take you? They cannot go anywhere themselves, so how could they grant salvation to you? This is why God has said: I have to uplift even these sages etc. They simply think that the versions are spoken by God Krishna, whereas God Shiva in fact speaks them. Shiva is bodiless. Therefore, He would surely explain through the mouth of the Father of People (Prajapita) Brahma. Human beings are created through Prajapita Brahma. Everyone believes that. Ask anyone and make them realise why a father creates children. A father creates them to give them an inheritance. Brahmins have been created through Brahma. You know that the Father is educating you and teaching you Raja Yoga in order to make you into the masters of heaven. The Father comes to change the world, to change hell into heaven. He comes to change the world of human beings into the world of deities. He alone will come to give you happiness. Although human beings here are multimillionaires and have palaces etc., you know that you claim a very high status through the study that you study. Those who study a worldly study understand that they are going to become barrister s , that they will become members of the I.A.S. (Indian Administrative Service). It is in your intellects that Shiv Baba is teaching you in order to make you into the masters of the world. That is such a high status and, in that too, you will never become diseased for 21 births; there won’t be untimely death. However, for whom? For the moths who make the Father belong to them and who are adopted by the Father. Wealthy ones would not be adopted by poor ones. The children of the poor are adopted by the wealthy. Now, everyone is completely poor. You know that these palaces etc. will all be destroyed; they will turn to dust. We are going to become the masters of the world. We were the masters, but are no longer that and we will once again become the masters. No one else can become the masters of the whole world. You become the masters of the whole world for 21 births. Happiness is for everyone. Here, people die even at a young age. There are many cases where they take birth to a king and die as soon as they take birth. It is as though that child received a kingdom only as far as taking birth. You children know that you are now sitting in front of the unlimited Father. A soul adopts a body and continues to play a part. You know that the Father of you souls has now come. He has come to liberate you from your old bondages and to connect you to new relationships. You truly go to the subtle region and Paradise etc. and meet everyone. Your connections are unlimited. This is such a good fashion. You can go to your in-laws’ home. Meera’s in-laws’ home too was Paradise. She wanted to go to her in-laws’ home (Paradise). This is not your in-laws’ home. Here, you are completely poor. You don’t have anything with you. Our Bharat is a very elevated land. It used to be Golden Bharat, but it is no longer that. People sing praise of when it was that. Now, look what the condition of gold has become! They even steal all the jewellery etc. People keep it hidden in case thieves steal it from them. There will be limitless gold there. There are signs of that. There are signs of that in the Somnath Temple. There are signs of how wealthy Bharat was. Look what the condition of Bharat has now become! You children know that you now belong to the Father in order to become the masters of heaven. Baba has come and He also came previously. People celebrate the Night of Shiva, but they also speak of the Night of Krishna as well as the Night of Shiva. There is only a slight difference. You children now know about these things. What does it matter whether the birth of Krishna takes place during the day or the night? In fact, it is wrong to celebrate the night of Krishna. The night is in fact of Shiva. However, this is something unlimited. These are the versions of God Shiva. They have forgotten Shiva and written about the night of Krishna. When night comes to an end, the day begins. The Father comes to create the unlimited day. There is the day of Brahma and the night of Brahma. Where did Brahma come from? He didn’t emerge from a womb. Who are the parents of Brahma? This is such a unique thing! The Father adopts him. He makes him the mother and also a child. It is the mother who adopts you. This is why it is remembered: You are the mother and Father. All of us souls are Your children. It is the soul that studies and listens through these organs. You children forget to remember Baba; you become body conscious. The Father explains: You souls are imperishable whereas your bodies are perishable. Baba has explained: Remember Me! This is your last birth; it is as valuable as a diamond. Those who belong to the Father have a birth as valuable as a diamond. You souls, along with your bodies, now belong to the Supreme Father, the Supreme Soul. The soul is now becoming like a diamond, that is, it is becoming pure 24 carat gold. Now, no carat remains. By sitting here personally and listening to the murli, you children have the feeling of Madhuban. It is here that the murli is played. Although Baba goes elsewhere too, there wouldn’t be as much pleasure there, because after listening to the murli, you go to your friends and relatives and into Maya’s kingdom. Here, you stay in a bhatthi (furnace). You are studying here to attain a kingdom. This is a hostel for you to live in. So many of the family and also so many outsiders come and stay here. Here, you are sitting in a school. There is no mundane business etc. You simply continue to chitchat among yourselves. On one side, there is the whole world and on the other side, there are you. The Father sits here and explains: The Beloved of you souls is just the One. It is souls who remember Him. On the path of devotion, because people are unhappy, they wander around so much to meet the incorporeal Father. They don’t wander around in the golden age. So many pictures have now been created. Someone creates whatever type of picture enters his mind. There is so much respect for the gurus. They think that we have gurus here too just like other gurus. For instance, Sadhu Vaswani was at first a teacher and became a holy man later. He served the poor. Now he receives hundreds of thousands of rupees. People think that this too is an ashram just like other ashrams. However, you understand that the Father comes here in the body of Brahma. Brahma Kumars and Kumaris are definitely needed. The mouth-born creation of Brahma, who creates the sacrificial fire of Rudra, is needed. This is the sacrificial fire of Rudra Shiv Baba. Now, simply remember the One. Here, it is a question of changing from humans into deities. There is no other gathering where they talk about changing human beings into deities. Only you receive the sovereignty of heaven.

[wp_ad_camp_3]

 

When you tell them this, they laugh at you, wondering how this could be possible. Then, when they fully understand you, they say that what you say is right. God truly is the Father and you receive the inheritance from the Father. We were the masters of heaven. Now see what the condition is! Tell anyone: He is the Father and He creates heaven. Therefore, why don’t you become the masters of heaven; why are you sitting in hell? It is now the kingdom of Ravan; he doesn’t exist in the golden age. The supreme religion is non-violence. That is called the land of Vishnu, but they don’t understand that the land of Vishnu means the land of heaven. You children know that the Father comes and teaches you in order to take you to the land of Vishnu. He says: Constantly remember Me alone! The Supreme Father, the Supreme Soul, comes and enables His tasks to be carried out through Brahma, Vishnu and Shankar. This is written clearly. Call it the land of Vishnu or the land of Krishna, it is the same thing. Lakshmi and Narayan in their childhood were Radhe and Krishna. This Prajapita Brahma is a corporeal being. In the subtle region, you wouldn’t call him Prajapita. Adoption takes place through Prajapita Brahma. The Father makes you belong to Him. This is something so easy. Simply keep the picture of the Trimurti in your home. Let there also be the writing on it. It is remembered that establishment takes place through Brahma. However, by speaking of Trimurti Brahma, they have made Father Shiva disappear. You now understand: that one is the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, and this one is Prajapita Brahma. Brahma is also called a deity. He is called a deity when he becomes a perfect and complete angel. You cannot be called deities at this time. Deities exist in the golden age. Yours is the deity religion. They say: Salutations to the Deities Brahma, Vishnu and Shankar. They don’t say: Salutations to the Supreme Soul Brahma. When they are called deities, how can people call themselves the Supreme Soul? How could it be possible for all to be forms of God? This too is fixed in the drama they cannot be blamed. How can we show them the path? All the devotees have forgotten everything. They show so many different paths! The Father explains: Death is now just ahead of you. If you want to claim your inheritance, you cannot receive it from Shiv Baba without Brahma. Everyone calls out to that one Beloved. I come at this confluence of every cycle. I am just a point. Look at how they compare Me! An imperishable part is recorded in such a tiny soul. This is a wonder. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Consider yourself to be a soul and connect the love of your heart to the one Father. This world is of no use. Therefore, remove it from your intellect.
  2. In order to make your life like a diamond, sacrifice yourself completely to the one Father. “Mine is one Baba and none other.” Make this lesson firm.
Blessing: May you be an embodiment of knowledge and make your every moment, thought and second powerful at the confluence age.
As well as listening to knowledge and relating it, you also have to put it into your practical form. An embodiment of knowledge is one whose every thought, word and deed are powerful. The most important thing of all is to make the seed, the thought, powerful. If the seed, the thought, is powerful, then your words, deeds and relationships easily become powerful. An embodiment of knowledge means to be one who is powerful at every moment, in every thought and at every second. Just as when there is light, there cannot be darkness, similarly, when you are powerful, there cannot be any waste
Slogan: To always say, “Ji hazir” (Yes, I am present for service) is to give the real proof of your love.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

Read Bk Murli 19 July 2017 :- Click Here

 

Brahma kumaris murli 21 July 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 21 July 2017

July 2017 all murlis :- Click Here

To Read Murli 20 July 2017 :- Click Here

21/07/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – इस पुरानी दुनिया, पुराने शरीर में कोई मज़ा नहीं है, इसलिए इससे जीते जी मरकर बाप का बन जाओ, सच्चे परवाने बनो”
प्रश्नः- संगमयुग का फैशन कौन सा है?
उत्तर:- इस संगमयुग पर ही तुम बच्चे यहाँ बैठे-बैठे अपने ससुर घर वैकुण्ठ का सैर करके आते हो। यह संगमयुग का ही फैशन है। सूक्ष्मवतन का राज़ भी अभी ही खुलता है।
प्रश्नः- किस विधि से गरीबी वा दु:खों को सहज ही भूल सकते हो?
उत्तर:- अशरीरी बनने का अभ्यास करो तो गरीबी वा दु:ख सब भूल जायेंगे। गरीब बच्चों के पास ही बाप आते हैं साहूकार बनाने। गरीब बच्चे ही बाप की गोद लेते हैं।
गीत:- महफिल में जल उठी शमा…

ओम् शान्ति। आत्माओं की प्रीत बनती है अपने पारलौकिक बाप परमपिता परमात्मा से। जानते हैं बाबा हमको यहाँ से ले जायेंगे। किसकी आत्मा शरीर छोड़ जाने लगती है तो मेहनत करते हैं। जैसे सावित्री सत्यवान की कहानी बताते हैं। उनकी आत्मा के पिछाड़ी कितना लटक पड़ी कि फिर शरीर में आ जाए। परन्तु उनमें ज्ञान तो था नहीं। तुम्हारे में ज्ञान है, हम हर एक की प्रीत भी है उस परमपिता परमात्मा से। प्रीत क्यों बनी हैं? मर जाने के लिए। यह प्रीत तो बहुत अच्छी है बाप की। आत्मायें आधाकल्प भक्ति मार्ग में ठोकरें खाती हैं कि हम अपने शान्तिधाम घर में जायें। है भी बरोबर। बाप भी कहते हैं अशरीरी बनो, मर जाओ। आत्मा शरीर से अलग हो जाती है तो उसको मर जाना कहा जाता है। बाप समझाते हैं बच्चे इस दुनिया अथवा इस बन्धन से मर जाओ अर्थात् मेरा बन जाओ। इस पुरानी दुनिया, पुराने शरीर में कोई मज़ा नहीं है। यह तो बहुत छी-छी दुनिया है। बरोबर रौरव नर्क है। तुम बच्चों को कहते हैं अब मेरे बन जाओ। मैं आया हूँ सुखधाम में ले जाने, जहाँ दु:ख का नाम नहीं रहता इसलिए इस शमा पर खुशी से परवाने बन जाओ। परवाने खुशी से आते हैं ना – दौड़-दौड़ कर। कोई ऐसे पतंगे होते हैं ज्योति जलती है तो जन्मते हैं, बत्ती बुझती है तो मर जाते हैं। दीप माला पर ढेर छोटे-छोटे पतंगे हरे रंग के होते हैं। बत्ती पर फिदा होते हैं। बत्ती गई और यह मरे। अब यह तो बड़ी शमा है। बाप कहते हैं तुम भी पतंगे मिसल फिदा हो जाओ। तुम तो चैतन्य मनुष्य हो जो भी देह के बन्धन हैं, यह जीते जी छोड़ दो। अपने को आत्मा समझ मेरे साथ योग लगाओ। खुशी में रहो तो इस शरीर का भान छूट जायेगा। हम आत्मा इस दुनिया को छोड़कर अपने घर जाती हैं। यह दुनिया अब कोई काम की नहीं है, इससे दिल नहीं लगाओ। इस दुनिया में बहुत गरीब हैं। गरीब ही दु:खी होते हैं।

बाप कहते हैं बच्चे अब अशरीरी बनो। हम आत्मा वहाँ शान्तिधाम में रहने वाली हैं। अभी तो उस शान्तिधाम में कोई जा नहीं सकते हैं, जब तक पवित्र नहीं बने हैं। इस समय सभी के पंख टूटे हुए हैं। सबसे जास्ती पंख उनके टूटे हुए हैं जो अपने को भगवान मान बैठे हैं। तो वह ले कहाँ जायेंगे। खुद ही नहीं जा सकते हैं तो तुम्हारी सद्गति कैसे करेंगे इसलिए भगवान ने कहा है कि इन साधुओं का भी मुझे उद्धार करना है। सिर्फ वह समझते हैं कृष्ण भगवानुवाच परन्तु है शिव भगवानुवाच। शिव है ही अशरीरी। तो जरूर प्रजापिता ब्रह्मा के मुख से ही समझायेंगे। मनुष्यों की रचना प्रजापिता ब्रह्मा से होती है। यह तो सब मानते हैं। कोई से भी पूछो उनको महसूस हो कि बरोबर बाप बच्चों को किसलिए रचते हैं। बाप रचते हैं वर्सा देने के लिए। ब्रह्मा द्वारा ब्राह्मणों को रचा है। तुम जानते हो बाप हमें पढ़ाते हैं, राजयोग सिखलाते हैं स्वर्ग का मालिक बनाने के लिए, बाप आते हैं दुनिया को बदलने। नर्क को स्वर्ग बनाने। मनुष्य सृष्टि को दैवी सृष्टि बनाने। वही सुख देने आयेंगे ना। भल यहाँ मनुष्य पदमपति हैं, महल माड़ियां हैं, परन्तु तुम जो पढ़ाई पढ़ते हो उससे तुम बड़ा ऊंच पद पाते हो। जिस्मानी पढ़ाई वाले समझेंगे हम बैरिस्टर बनते हैं। हम आई.ए.एस. बनते हैं। तुम्हारी बुद्धि में है हमको शिवबाबा पढ़ाते हैं विश्व का मालिक बनाने लिए। कितना ऊंच ते ऊंच पद है, सो भी 21 जन्म कभी रोगी नहीं बनते हैं। अकाले मृत्यु नहीं होती है। परन्तु किसकी? जो परवाने बाप को अपना बनाते हैं। बाप की गोद लेते हैं। साहूकार तो गरीब की गोद नहीं लेंगे। गरीब के बच्चे साहूकार की गोद लेंगे। अभी तो सब बिल्कुल गरीब हैं। तुम जानते हो यह महल माड़ियाँ आदि सब खत्म हो जायेंगी, मिट्टी में मिल जायेंगी। हम ही विश्व के मालिक बनने वाले हैं। मालिक थे, अब नहीं हैं फिर मालिक बनेंगे। सारी सृष्टि का मालिक और कोई बनते नहीं हैं।

तुम सारे विश्व के मालिक बनते हो 21 जन्म के लिए। सुख तो सबके लिए है। यहाँ तो छोटी आयु वाले ही मर जाते हैं। बहुत ऐसे भी होते हैं जो राजा के पास जन्म लेते ही मर पड़ते हैं। राजाई जैसे जन्म लेने तक ही मिली। अभी तुम बच्चे जानते हो यहाँ हम बैठे हैं बेहद बाप के आगे। आत्मा शरीर धारण कर पार्ट बजाती रहती है। अभी जानते हैं हमारी आत्मा का बाप आया हुआ है। पुराने बन्धन से छुड़ाय नये सम्बन्ध में जुटाने के लिए। बरोबर तुम सूक्ष्मवतन, वैकुण्ठ आदि में जाते हो, मिलते जुलते हो। तुम्हारा कनेक्शन हो गया है बेहद का। यह कैसा अच्छा फैशन हो गया है। अपने ससुरघर जा सकते हो। मीरा का भी वैकुण्ठ ससुरघर था ना। चाहती थी ससुरघर (वैकुण्ठ) जायें। यह ससुर घर नहीं है। यहाँ तो बिल्कुल गरीब हैं। कुछ भी तुम्हारे पास नहीं है। भारत हमारा बहुत ऊंचा देश है। सोने का भारत था, अब नहीं है। जब था उसकी महिमा करते हैं। अभी तो सोने की क्या हालत हो गई है। जेवर आदि सब ले लेते हैं। बिचारे छिपाकर रखते हैं, कहाँ डाकू न लूट जाये। वहाँ तो बेशुमार सोना होगा। निशानियाँ भी लगी हुई हैं। सोमनाथ के मन्दिर में निशानियाँ हैं। मणियाँ आदि कब्रों में मुसलमानों ने जाकर लगा दी। अंग्रेज लोग भी ले गये। निशानियां लगी हुई हैं। तो भारत कितना साहूकार था। अब देखो भारत का क्या हाल है। अभी तुम बच्चे जानते हो बाप के बने हैं, स्वर्ग का मालिक बनने। बाबा आया हुआ है। आगे भी आया था। शिवरात्रि मनाते हैं। अब रात्रि कृष्ण की भी कहते हैं। शिव की रात्रि भी कहते हैं। है जरा सा फ़र्क। इन बातों को अब तुम बच्चे जानते हो, कृष्ण का जन्म तो दिन में हो वा रात में हो – इसमें रखा ही क्या है? रात्रि कृष्ण की मनाना वास्तव में रांग है, रात्रि है शिव की। परन्तु यह है बेहद की बात और है भी शिव भगवानुवाच। उन्होंने शिव को भूल कृष्ण की रात्रि लिख दी है। जब रात पूरी हो तब दिन शुरू हो। बाप आते ही हैं बेहद का दिन बनाने। ब्रह्मा का दिन, ब्रह्मा की रात। ब्रह्मा कहाँ से आया? गर्भ से तो नहीं निकला। ब्रह्मा के माँ बाप कौन? कितनी विचित्र बात है। बाप एडाप्ट करते हैं। इनको माँ भी बनाते हैं, बच्चा भी बनाते हैं। माँ ही एडाप्ट करती है इसलिए गाया जाता है तुम मात-पिता… हम सब आत्मायें आपके बच्चे हैं। आत्मा ही पढ़ती है, इन आरगन्स से सुनती है। बच्चों को यह याद भूल जाती है। देह-अभिमान में आ जाते हैं। बाप समझाते हैं – तुम आत्मा अविनाशी हो। शरीर विनाशी है। बाबा ने समझाया है – मुझे याद करो। यह तुम्हारा अन्तिम जन्म है, जो हीरे तुल्य है। जो बाप के बनते हैं उनका हीरे तुल्य जन्म है। तुम्हारी आत्मा शरीर के साथ परमपिता परमात्मा की बनी है। अब आत्मा हीरे जैसा बनती है अर्थात् प्योर सोना बनती है 24 कैरेट। अभी तो कोई कैरेट नहीं रहा है। अभी तुम बच्चों को सम्मुख बैठ सुनने से मधुबन की भासना आती है। यहाँ ही मुरली बजती है। भल बाबा कहाँ जाता भी है परन्तु इतना मज़ा नहीं आयेगा, क्योंकि मुरली सुनकर फिर मित्र-सम्बन्धी आदि माया के राज्य में चले जाते हो। यहाँ तो भट्ठी में रहते हो। यहाँ तो राजाई की प्राप्ति के लिए पढ़ रहे हो। यह तुम्हारे रहने के लिए हॉस्टल है। घर के भी और बाहर के भी कितने आकर रहते हैं। यहाँ तुम स्कूल में बैठे हो। गोरखधन्धा आदि कुछ भी नहीं है। आपस में ही चिटचैट करते रहते हैं। एक तरफ है सारी दुनिया, दूसरी तरफ हो तुम।

[wp_ad_camp_3]

 

बाप बैठ समझाते हैं तुम आत्माओं का प्रीतम एक है। आत्मा ही उनको याद करती है। भक्ति में कितना भटकते हैं, निराकार बाप से मिलने के लिए क्योंकि दु:खी हैं। सतयुग में भटकते नहीं हैं। अभी तो कितने ढेर चित्र बनाये हैं, जिसको जो आया वह चित्र बनाया। गुरूओं का कितना मान है। समझते हैं जैसे वह गुरू लोग हैं वैसे यहाँ भी यह गुरू हैं। जैसे साधू वासवानी पहले टीचर था, पीछे साधू बना। गरीबों की सेवा की। अभी उनके पास कितने लाखों रूपये आते हैं। मनुष्य समझते हैं जैसे और आश्रम हैं वैसे यह भी आश्रम है। परन्तु तुम समझते हो यहाँ बाप आते ही ब्रह्मा के तन में हैं। जरूर ब्रह्माकुमार कुमारियां चाहिए। ब्रह्मा के मुख वंशावली चाहिए ना, जो रूद्र यज्ञ रचें। यह है रूद्र शिवबाबा का यज्ञ। अब एक को ही याद करना है। यहाँ तो मनुष्य से देवता बनने की बात है। ऐसा कोई सतसंग नहीं है जहाँ यह बात हो कि मनुष्य से देवता बनना है। तुमको ही स्वर्ग की बादशाही मिलती है। तुम्हारी बात से मनुष्य हँस पड़ते हैं कि यह कैसे हो सकता। फिर जब पूरा समझते हैं फिर कहते हैं कि बात राइट है। बरोबर भगवान बाप है ना। बाप से वर्सा मिलता है। हम विश्व के मालिक थे। अब देखो क्या हाल है। किसको भी बोलो वह तो बाप है, स्वर्ग रचता है फिर तुम स्वर्ग के मालिक क्यों नहीं बनते हो। नर्क में क्यों बैठे हो। अभी तो रावण राज्य है, सतयुग में रावण होता ही नहीं। अहिंसा परमो धर्म है। उनको विष्णुपुरी कहते हैं। परन्तु समझते नहीं कि विष्णुपुरी माना स्वर्गपुरी। तुम बच्चे जानते हो विष्णुपुरी में ले जाने के लिए बाप आकर पढ़ाते हैं। कहते हैं मामेकम् याद करो। परमपिता परमात्मा आकर ब्रह्मा विष्णु शंकर द्वारा अपना कर्तव्य कराते हैं। क्लीयर लिखा हुआ है। विष्णुपुरी कहो वा कृष्णपुरी कहो, एक ही बात है। लक्ष्मी-नारायण बचपन में राधे कृष्ण हैं। यह प्रजापिता ब्रह्मा तो साकारी है ना। सूक्ष्मवतन में तो प्रजापिता नहीं कहेंगे ना। प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा एडाप्शन होती है। बाप अपना बनाते हैं। कितनी सहज बात है। सिर्फ त्रिमूर्ति का चित्र अपने घर में रखो। उनमें लिखत भी हो। गाते भी हैं – ब्रह्मा द्वारा स्थापना, परन्तु त्रिमूर्ति ब्रह्मा कह बाप शिव को गुम कर दिया है। अभी तुम समझते हो – वह है निराकार परमपिता परमात्मा, यह है प्रजापिता ब्रह्मा। ब्रह्मा को देवता भी कहेंगे। देवता तब कहेंगे जब सम्पूर्ण फरिश्ता बनते हैं। तुमको अभी देवता नहीं कहेंगे। देवतायें हैं सतयुग में। तुम्हारा है दैवी धर्म। ब्रह्मा विष्णु शंकर देवता नम: कहते हैं, न कि ब्रह्मा परमात्माए नम: कहते हैं। जब इन्हों को ही देवता कहते हैं फिर अपने को परमात्मा क्यों कहते हैं। सब परमात्मा के रूप हैं, यह कैसे हो सकता है। यह भी ड्रामा में नूंध है। उनका भी कोई दोष नहीं है। अब उन्हों को रास्ता कैसे बतायें। भगत सब भूले हुए हैं। किसम-किसम के अथाह रास्ते बताते हैं। अब बाप समझाते हैं मौत सामने खड़ा है। वर्सा लेना है तो सिवाए ब्रह्मा के शिवबाबा से वर्सा मिल न सके। सब उस एक प्रीतम को बुलाते हैं। मैं कल्प-कल्प इस संगम पर आता हूँ। मैं हूँ भी बिन्दी। भेंट देखो कैसे करते हैं। कितनी छोटी सी आत्मा में अविनाशी पार्ट है। यह कुदरत है। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपने को आत्मा समझ दिल की प्रीत एक बाप से लगानी है। यह दुनिया कोई काम की नहीं इसलिए इसे बुद्धि से भूल जाना है।

2) अपने जीवन को हीरे तुल्य बनाने के लिए एक बाप पर पूरा-पूरा फिदा होना है। मेरा तो एक बाबा, दूसरा न कोई – यह पाठ पक्का करना है।

वरदान:- संगमयुग पर हर समय, हर संकल्प, हर सेकण्ड को समर्थ बनाने वाले ज्ञान स्वरूप भव 
ज्ञान सुनने और सुनाने के साथ-साथ ज्ञान को स्वरूप में लाओ। ज्ञान स्वरूप वह है जिसका हर संकल्प, बोल और कर्म समर्थ हो। सबसे मुख्य बात – संकल्प रूपी बीज को समर्थ बनाना है। यदि संकल्प रूपी बीज समर्थ है तो वाणी, कर्म, सम्बन्ध सहज ही समर्थ हो जाता है। ज्ञान स्वरूप माना हर समय, हर संकल्प, हर सेकण्ड समर्थ हो। जैसे प्रकाश है तो अन्धियारा नहीं होता। ऐसे समर्थ है तो व्यर्थ हो नहीं सकता।
स्लोगन:- सेवा में सदा जी हाज़िर करना-यही प्यार का सच्चा सबूत है।

 

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 19 July 2017 :- Click Here

 

Font Resize