21 january ki murli

TODAY MURLI 21 JANUARY 2021 DAILY MURLI (English)

21/01/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have come here to take power from the Almighty Authority Father; that is, you have come to have the oil of knowledge poured into you lamps.
Question: Why is there praise of “The Procession of Shiva”?
Answer: Because when Shiv Baba goes back, the whole swarm of souls run after Him. In the supreme region it is as though the souls are in a beehive formation. You children who become pure go back with the Father. There is praise of the procession because of His company.

Om shanti. You children should first of all just understand one point: we are all brothers and He is the Father of us all. He is called the Almighty Authority. You had all powers and you used to rule the world. There used to be the kingdom of those deities in Bharat, that is, it used to be the kingdom of you children. You were pure deities. That was your clan or dynasty. They were all viceless. Who was viceless? Souls were viceless. You are now becoming viceless once again. It is as though you are remembering the Father, the Almighty Authority, and receiving power from Him. The Father has explained that you souls play your parts for 84 births. The satopradhan strength that you had then continued to decrease day by day. You became tamopradhan from satopradhan, just as when the power in a battery decreases, the car stops; the battery becomes discharged. The battery of a soul never becomes fully discharged; a little power always remains. An earthenware lamp is lit when someone dies. They continue to pour oil into it so that it doesn’t go out. When the charge of a battery decreases, it is recharged. You children now understand that you souls were almighty authorities. You are now once again connecting your intellects in yoga with the Almighty Authority Father so that His power enters you because your power has decreased. A little power definitely does remain. If it were to finish completely, your bodies would not remain. Souls become completely pure by remembering the Father. In the golden age your battery is fully charged, and then, little by little, it decreases. The meter decreases slowly to the silver age. That is also called degrees. It is then said that the souls who were satopradhan then reached the sato stage; their strength decreases. You understand that in the golden age you have become deities from human beings. The Father says: Now remember Me and you will become satopradhan from tamopradhan. You have now become tamopradhan and you have become bankrupt in strength. Now, by remembering the Father once again, you will receive full strength. You understand that your bodies and all your bodily relations are to finish. You will then receive the unlimited kingdom. The Father is unlimited and so He also gives you an unlimited inheritance. You are now impure and you have very little strength. O children, now remember Me! I am the Almighty. You receive the almighty kingdom from Me. In the golden age, the deities were the masters of the whole world; they were pure and had divine virtues. They don’t have those divine virtues any more. Everyone’s battery is now almost completely discharged. Everyone’s battery is now being charged. No one’s battery can become charged without having yoga with the Supreme Father, the Supreme Soul. That Father is everpure. Here, everyone is impure. When you are pure your battery remains charged. So, the Father says: Only remember the One! The Highest on High is God and all the rest are creation. The creation cannot receive the inheritance from a creation. There is only the one Creator. He is the unlimited Father. All other fathers are limited. By remembering the unlimited Father you receive the unlimited sovereignty. Therefore, you children should know in your hearts that Baba is establishing the new world of heaven for you. According to the dramaplan, heaven is being established. You know that the golden age is going to come. There is constant happiness in the golden age. How do you receive that? The Father sits here and explains: Remember Me alone. I am everpure. I never take a human body. I neither take a body of a deity nor of a human, that is, I never enter the cycle of birth and death. I simply come and enter this one’s body when he reaches 60, the age of retirement, to give you children the sovereignty of heaven. It is this one who has become tamopradhan from being completely satopradhan. The number one is the Highest on High, God, and then it is said that there are Brahma, Vishnu and Shankar, the residents of the subtle region, of whom you have visions. The subtle region is the region in the middle where there cannot be any physical bodies. Subtle bodies are just seen with divine vision. The human world exists here. However, those are just angels for the sake of visions. When you children become completely pure at the end, there will be visions of you; you will become such angels. You will then come here in the golden age and become the masters of the world. This Brahma does not remember Vishnu. This one also remembers Shiv Baba and becomes Vishnu. Therefore, you should understand this. How did they claim their kingdom? There is no war etc. there. How could deities be violent? Whether someone believes this or not, you children now remember the Father and claim your kingdom. It also says in the Gita: O child, renounce your body and all bodily religions and constantly remember Me alone! God doesn’t have a body that He would have attachment. He says: I take this one’s body on loan for a short time. How else could I give knowledge? I am the Seed. I have the knowledge of the whole tree. No one else knows this. How long is the duration of the world? How is it established, sustained and destroyed? Human beings have to know this. It is human beings who study. Animals are not going to study. Those people study limited studies. The Father is teaching you an unlimited study through which He makes you into the masters of the unlimited. Therefore, you have to explain that no human being or bodily being can be called God. Brahma, Vishnu and Shankar have subtle bodies. Their names are completely different. They cannot be called God. This body is the throne of the soul of this Dada. There is the immortal throne. This is now the throne of the Father, the Immortal Image. In Amritsar they have the Immortal Throne. Eminent people go there and sit on the Immortal Throne. The Father now explains to you: All of these bodies are thrones of immortal souls. Souls are immortal and cannot be eaten by death. However, the thrones keep changing. This immortal image, this soul, sits on this throne. At first, the throne is small and then it grows. The soul sheds a body and takes another. The soul is immortal, but has good and bad sanskars, and that is why it is said: That is the fruit of his karma. Souls are never destroyed. There is only the one Father of souls. You have to understand this. Does this Baba relate things from the scriptures to you? No one can return home by studying the scriptures etc. Everyone will go back home at the end, just like a swarm of locusts or honey bees. There is also a queen of honey bees; they all follow her. When the Father goes back, all souls go behind Him. In the supreme region it is as though all souls are there in a beehive formation, whereas here there is a crowd of human beings. This crowd will also have to run home one day. The Father comes and takes all souls home. “The Procession of Shiva” is remembered. You can be called children or brides. The Father comes, educates you children and teaches you the pilgrimage of remembrance. A soul cannot return without becoming pure. When you become pure, you will first go to the land of peace. All of you go and reside there. Then, as you gradually come down here from there, the number of you grows. You will run after the Father first. You have yoga with the Father or you brides have yoga with the Bridegroom. A kingdom has to be created. You don’t all come down together. There, it is the world of all souls. You continue to come down, numberwise; the tree grows slowly. First, there is the original eternal deity religion that the Father establishes. He first makes us into Brahmins. He is Prajapita Brahma. As his people, you become brothers and sisters. There are many Brahma Kumars and Kumaris. Their intellects definitely have faith for this is why there are so many of them. How many Brahmins are there? Strong and weak? Some receive 99% marks and others only receive 10% marks. So, that means they are weak. Among you too, those who are strong will definitely come at the beginning whereas those who are weak will come towards the end. This is the world of actors and it continues to turn: the golden age, the silver age. This is now the most elevated confluence age. The Father has now explained this to us. Previously, we understood wrongly that the duration of each cycle is hundreds of thousands of years. The Father has now explained to us that the full cycle is 5000 years. For half the cycle, it is the kingdom of Rama and for half the cycle, it is the kingdom of Ravan. If the cycle were hundreds of thousands of years, it could not be half and half. Happiness and sorrow are destined in the world. We receive this unlimited knowledge from the unlimited Father. Shiv Baba doesn’t have a bodily name. This body belongs to this Dada. Where is Baba? Baba has taken this body on loan for a short time. Baba says: I need a mouth. Here, too, (in Abu) a Gaumukh (the mouth of a cow) has been created. Water flows everywhere from the mountains. They found a cow’s mouth here from which water flows. They consider that to be the water of the Ganges. How can the Ganges come here? All of those things are false. It is said: The body is false, Maya is false and the world is false. When Bharat is heaven, it is called the land of truth, and then, when Bharat becomes old, it is called the land of falsehood. When everyone in this land of falsehood becomes impure, they call out: Baba, purify us and take us away from this old world. The Father says: All My children have become ugly by sitting on the pyre of lust. The Father sits here and tells you children: You were the masters of heaven, were you not? Do you remember that? He explains to you children. He doesn’t explain to the whole world. He only explains to you, so that you know who your Father is. This world is called a forest of thorns. The biggest thorn that pricks you is lust. Although there are many devotees here who are vegetarians, it isn’t that they don’t indulge in vice. There are many who are celibate from birth; they have not eaten impure food from childhood. Even sannyasis say: Become viceless! They inspire people to have limited renunciation. They take their next birth to householders and then leave their homes and families and go away. Do the deities, like Krishna etc., leave their homes and families? No! Their renunciation is limited, whereas your renunciation is unlimited. You renounce the whole world, including all your relatives etc. Heaven is now being established for you. Your intellects should only go towards heaven. Therefore you have to remember Shiv Baba. The unlimited Father says: “Remember Me! Manmanabhav! Madhyajibhav!” and you will thereby become deities. This is the same episode of the Gita. It is also the confluence age. Only at the confluence age do I come and speak this knowledge to you. I definitely taught you Raj Yoga at the confluence age in the previous cycle. This world changes and you become pure from impure. This is now the most elevated confluence age when we become satopradhan from tamopradhan. Understand everything very clearly and have firm faith. It is not a human being who is saying this. This is shrimat, the most elevated directions of God. All the rest are the dictates of human beings. By following human dictates you have been falling. Now, by following shrimat, you ascend. The Father changes you from humans into deities. The dictates of deities are the dictates of the residents of heaven, whereas other dictates are the dictates of the residents of hell. Those are called the dictates of Ravan. The kingdom of Ravan is no less. It is now the kingdom of Ravan over the whole world. This is an unlimited island (Lanka) over which there is the kingdom of Ravan. It will then become the pure kingdom of deities. There, there is a lot of happiness. There is so much praise of heaven! They even say: “So-and-so went to heaven.” Therefore, he must surely have been in hell. If he went from hell, he would surely return to hell. Heaven doesn’t exist at the moment. These things are not mentioned in any of the scriptures. The Father is now giving you all the knowledge and charging your batteries. Maya then breaks the link. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become pure in your thoughts, words and deeds and charge the battery of your soul. Become a firm Brahmin.
  2. Renounce following the dictates of your own mind and those of other human beings. Follow the directions of the one Father and make yourself elevated. Become satopradhan and fly home with the Father.
Blessing: May you become full of all attainments and experience happiness, power and success by following shrimat.
The children who consider themselves to be trustees and continue to move along according to shrimat, who do not even slightly mix their own dictates or the dictates of others with shrimat constantly experience happiness, power and success. When you make less effort or don’t have to work so hard and at the same time attain a lot, it would be said that you are following shrimat accurately. However, Maya mixes the dictates of yourself and the dictates of others with God’s shrimat in a royal way, and so you are not able to experience all attainments. For this, imbibe the powers to discern and decide and you will not be deceived.
Slogan: A child and master is one who makes the Father, the Bestower of Fortune, belong to him with the power of tapasya.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 21 JANUARY 2021 : AAJ KI MURLI

21-01-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम यहाँ आये हो सर्वशक्तिमान् बाप से शक्ति लेने अर्थात् दीपक में ज्ञान का घृत डालने”
प्रश्नः- शिव की बरात का गायन क्यों है?
उत्तर:- क्योंकि शिवबाबा जब वापिस जाते हैं तो सभी आत्माओं का झुण्ड उनके पीछे-पीछे भागकर जाता है। मूलवतन में भी आत्माओं का मनारा (छत्ता) लग जाता है। तुम पवित्र बनने वाले बच्चे बाप के साथ-साथ जाते हो। साथ के कारण ही बरात का गायन है।

ओम् शान्ति। बच्चों को पहले-पहले एक ही प्वाइंट समझने की है कि हम सब भाई-भाई हैं और वह सबका बाप है। उनको सर्वशक्तिमान् कहा जाता है। तुम्हारे में सर्वशक्तियां थी। तुम विश्व पर राज्य करते थे। भारत में ही इन देवी-देवताओं का राज्य था। गोया तुम बच्चों का राज्य था। तुम पवित्र देवी-देवतायें थे, तुम्हारा कुल वा डिनायस्टी है, वह सब निर्विकारी थे। कौन निर्विकारी थे? आत्मायें। अब फिर तुम निर्विकारी बन रहे हो। जैसेकि सर्वशक्तिमान् बाप को याद कर उनसे शक्ति ले रहे हो। बाप ने समझाया है आत्मा ही 84 का पार्ट बजाती है। उनमें जो सतोप्रधान ताकत थी वह फिर दिन-प्रतिदिन कम होती जाती है। सतोप्रधान से तमोप्रधान बनना है। जैसे बैटरी की ताकत कम होती जाती है तो मोटर खड़ी हो जाती है। बैटरी डिस्चार्ज हो जाती है। आत्मा की बैटरी फुल डिस्चार्ज नहीं होती है, कुछ न कुछ ताकत रहती है। जैसे कोई मरता है तो दीपक जलाते हैं, उसमें घृत डालते रहते हैं कि ज्योति बुझ न जाए। बैटरी की ताकत कम होती है तो फिर चार्ज करने रखते हैं। अभी तुम बच्चे समझते हो – तुम्हारी आत्मा सर्वशक्तिमान् थी, अब फिर तुम सर्वशक्तिमान् बाप से अपना बुद्धियोग लगाते हो। तो बाबा की शक्ति हमारे में आ जाए क्योंकि शक्ति कम हो गई है। थोड़ी जरूर रहती है। एकदम खत्म हो जाए तो फिर शरीर न रहे। आत्मा बाप को याद करते-करते बिल्कुल प्योर हो जाती है। सतयुग में तुम्हारी बैटरी फुल चार्ज होती है फिर थोड़ी-थोड़ी कम होती जाती है। त्रेता तक मीटर कम होता है, जिसको कला कहा जाता है। फिर कहेंगे आत्मा जो सतोप्रधान थी वह सतो बनी, ताकत कम हो जाती है। तुम समझते हो हम मनुष्य से देवता बन जाते हैं सतयुग में। अब बाप कहते हैं – मुझे याद करो तो तुम तमोप्रधान से सतोप्रधान बन जायेंगे। अभी तुम तमोप्रधान बन गये हो तो ताकत का देवाला निकल गया है। फिर बाप को याद करने से पूरी ताकत आयेगी, क्योंकि तुम जानते हो देह सहित देह के जो भी सब सम्बन्ध हैं, वह सब खत्म हो जाने हैं फिर तुमको बेहद का राज्य मिलता है। बाप भी बेहद का है तो वर्सा भी बेहद का देते हैं। अभी तुम पतित हो, तुम्हारी ताकत बिल्कुल कम होती गई है। हे बच्चों – अब तुम मुझे याद करो, मैं ऑलमाइटी हूँ, मेरे द्वारा ऑलमाइटी राज्य मिलता है। सतयुग में देवी-देवता सारे विश्व के मालिक थे, पवित्र थे, दैवी गुणवान थे। अभी वह दैवीगुण नहीं हैं। सबकी बैटरी पूरी डिस्चार्ज होने लगी है। फिर अब बैटरी भरती है। सिवाए परमपिता परमात्मा के साथ योग लगाने के बैटरी चार्ज नहीं हो सकती। वह बाप ही एवर प्योर है। यहाँ सब हैं इमप्योर। जब प्योर रहते हैं तो बैटरी चार्ज रहती है। तो अब बाप समझाते हैं एक को ही याद करना है। ऊंच ते ऊंच है भगवान। बाकी सब हैं रचना। रचना से रचना को कभी वर्सा नहीं मिलता है। क्रियेटर तो एक ही है। वह है बेहद का बाप। बाकी तो सब हैं हद के। बेहद के बाप को याद करने से बेहद की बादशाही मिलती है। तो बच्चों को दिल अन्दर समझना चाहिए – हमारे लिए बाबा नई दुनिया स्वर्ग की स्थापना कर रहे हैं। ड्रामा प्लैन अनुसार स्वर्ग की स्थापना हो रही है। तुम जानते हो – सतयुग आने वाला है। सतयुग में होता ही है सदा सुख। वह कैसे मिलता है? बाप बैठ समझाते हैं मामेकम् याद करो। मैं एवरप्योर हूँ। मैं कभी मनुष्य तन नहीं लेता हूँ। न दैवी तन, न मनुष्य तन लेता हूँ अर्थात् मैं जन्म-मरण में नहीं आता हूँ। सिर्फ तुम बच्चों को स्वर्ग की बादशाही देने लिए, जब यह 60 वर्ष की वानप्रस्थ अवस्था में होता है तब इनके तन में आता हूँ। यही पूरा सतोप्रधान से तमोप्रधान बना है। नम्बरवन ऊंच ते ऊंच भगवान फिर हैं सूक्ष्मवतनवासी ब्रह्मा-विष्णु-शंकर, जिसका साक्षात्कार होता है। सूक्ष्मवतन बीच का है ना। जहाँ शरीर नहीं हो सकते। सूक्ष्म शरीर सिर्फ दिव्य दृष्टि से देखा जाता है। मनुष्य सृष्टि तो यहाँ है। बाकी वह तो सिर्फ साक्षात्कार के लिए फरिश्ते हैं। तुम बच्चे भी अन्त में जब बिल्कुल पवित्र हो जाते हो तो तुम्हारा भी साक्षात्कार होता है। ऐसे फरिश्ते बन फिर सतयुग में यहाँ ही आकर स्वर्ग के मालिक बनेंगे। यह ब्रह्मा कोई विष्णु को याद नहीं करते हैं। यह भी शिवबाबा को याद करते हैं और यह विष्णु बनते हैं। तो यह समझना चाहिए ना। इन्होंने राज्य कैसे पाया! लड़ाई आदि तो कुछ भी होती नहीं। देवतायें हिंसा कैसे करेंगे!

अभी तुम बच्चे बाप को याद करके राजाई लेते हो। कोई माने न माने। गीता में भी है – हे बच्चों, देह सहित देह के सब धर्म छोड़ मामेकम् याद करो। उनको तो देह है नहीं जो ममत्व रखें। कहते हैं मैं थोड़े समय के लिए इनके शरीर का लोन लेता हूँ। नहीं तो मैं नॉलेज कैसे दूँ! मैं बीजरूप हूँ ना। इस सारे झाड़ की नॉलेज मेरे पास है। और किसको पता नहीं, सृष्टि की आयु कितनी है? कैसे इनकी स्थापना, पालना, विनाश होता है? मनुष्यों को तो पता होना चाहिए। मनुष्य ही पढ़ते हैं। जानवर तो नहीं पढ़ेंगे ना। वह पढ़ते हैं हद की पढ़ाई। बाप तुमको बेहद की पढ़ाई पढ़ाते हैं, जिससे तुमको बेहद का मालिक बनाते हैं। तो यह समझाना चाहिए कि भगवान किसी मनुष्य को अथवा देहधारी को नहीं कहा जाता। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर को भी सूक्ष्म देह है ना। इन्हों का नाम ही अलग है, इनको भगवान नहीं कहा जाता। यह शरीर तो इस दादा की आत्मा का तख्त था। अकाल तख्त है ना। अभी यह अकालमूर्त बाप का तख्त है। अमृतसर में भी एक अकाल तख्त है ना। बड़े-बड़े जो होते हैं वहाँ अकाल तख्त पर जाकर बैठते हैं। अभी बाप समझाते हैं यह सब अकाल आत्माओं के तख्त हैं। आत्मा अकाल है जिसको काल खा न सके। बाकी तख्त तो बदलते रहते हैं। अकालमूर्त आत्मा इस तख्त पर बैठती है। पहले छोटा तख्त होता है फिर बड़ा हो जाता है। आत्मा एक शरीर छोड़ दूसरा लेती है। आत्मा अकाल है। बाकी उनमें अच्छे वा बुरे संस्कार होते हैं तब तो कहा जाता है ना – कर्मों का यह फल है। आत्मा कभी विनाश नहीं होती है। आत्मा का बाप है एक। यह तो समझना चाहिए ना। यह बाबा कोई शास्त्रों की बात सुनाते हैं क्या! शास्त्र आदि पढ़ने से वापिस तो कोई जा नहीं सकते। पिछाड़ी में सब जायेंगे। जैसे टिड्डियों का अथवा मधुमक्खी का झुण्ड जाता है ना। मधुमक्खियों की भी क्वीन होती है। उनके पिछाड़ी सब जाते हैं। बाप भी जायेंगे तो उनके पिछाड़ी सब आत्मायें जायेंगी। वहाँ मूलवतन में जैसे सब आत्माओं का मनारा (छत्ता) है। यहाँ फिर है मनुष्यों का झुण्ड। तो यह झुण्ड भी एक दिन भागना है। बाप आकर सब आत्माओं को ले जाते हैं। शिव की बरात कहा जाता है। बच्चे कहो अथवा सजनियां कहो। बाप आकर बच्चों को पढ़ाकर याद की यात्रा सिखलाते हैं। पवित्र बनने बिगर तो आत्मा जा नहीं सकती। जब पवित्र बन जायेगी तब पहले-पहले शान्तिधाम जायेगी। वहाँ जाकर सब निवास करते हैं। वहाँ से फिर धीरे-धीरे आते रहते हैं, वृद्धि होती रहती है। तुम ही पहले-पहले भागेंगे बाप के पिछाड़ी। तुम्हारा बाप के साथ अथवा सजनियों का साजन के साथ योग है। राजधानी बननी है ना। सब इकट्ठे नहीं आते हैं। वहाँ सब आत्माओं की दुनिया है। वहाँ से फिर नम्बरवार आते हैं। झाड़ धीरे-धीरे वृद्धि को पाता है। पहले-पहले तो है आदि सनातन देवी-देवता धर्म, जो बाप स्थापन करते हैं। पहले-पहले हमको ब्राह्मण बनाते हैं। प्रजापिता ब्रह्मा है ना। प्रजा में भाई-बहिन हो जाते हैं। ब्रह्माकुमार और कुमारियां ढेर हैं। जरूर निश्चयबुद्धि होंगे तब तो इतने ढेर हुए हैं। ब्राह्मण कितने होंगे? कच्चे वा पक्के? कोई तो 99 मार्क्स लेते हैं, कोई 10 मार्क्स लेते हैं तो गोया कच्चे ठहरे ना। तुम्हारे में भी जो पक्के हैं वह जरूर पहले आयेंगे। कच्चे वाले पिछाड़ी में आयेंगे। यह पार्टधारियों की दुनिया है जो फिरती रहती है। सतयुग, त्रेता…. यह पुरुषोत्तम संगमयुग है। यह अभी बाप ने बताया है। पहले तो हम उल्टा ही समझते आये कि कल्प की आयु लाखों वर्ष है। अभी बाप ने बताया है यह तो पूरा 5 हज़ार वर्ष का चक्र है। आधाकल्प है राम का राज्य, आधाकल्प है रावण का राज्य। लाखों वर्ष का कल्प होता तो आधा-आधा भी हो न सके। दु:ख और सुख की यह दुनिया बनी हुई है। यह बेहद की नॉलेज बेहद के बाप से मिलती है। शिवबाबा के शरीर का कोई नाम नहीं है। यह शरीर तो इस दादा का है। बाबा कहाँ है? बाबा ने थोड़े समय के लिए लोन लिया है। बाबा कहते हैं हमको मुख तो चाहिए ना। यहाँ भी गऊमुख बनाया हुआ है। पहाड़ी से पानी तो जहाँ-तहाँ आता है। यहाँ फिर गऊ का मुख बना दिया है, उससे पानी आता है, उनको गंगाजल समझ लेते हैं। अब गंगा फिर कहाँ से आई? यह है सब झूठ। झूठी काया, झूठी माया, झूठा सब संसार। भारत जब स्वर्ग था तो सचखण्ड कहा जाता है फिर भारत ही पुराना बनता तो झूठखण्ड कहा जाता है। इस झूठखण्ड में जब सभी पतित बन जाते हैं तब बुलाते हैं – बाबा हमको पावन बनाए इस पुरानी दुनिया से ले चलो। बाप कहते हैं मेरे सब बच्चे काम चिता पर चढ़ काले बन गये हैं। बाप बच्चों को बैठ कहते हैं तुम तो स्वर्ग के मालिक थे ना! स्मृति आई है ना। बच्चों को समझाते हैं, सारी दुनिया को नहीं समझाते। तुमको ही समझाते हैं तो मालूम पड़े कि हमारा बाप कौन है!

इस दुनिया को कहा जाता है फॉरेस्ट ऑफ थॉर्नस। (कांटों का जंगल) सबसे बड़ा काम का कांटा लगाते हैं। भल यहाँ भगत भी बहुत हैं, वेजीटेरियन हैं, परन्तु ऐसे नहीं कि विकार में नहीं जाते हैं। ऐसे तो बहुत बाल ब्रह्मचारी भी रहते हैं। छोटेपन से ही कब छी-छी खाना आदि नहीं खाते हैं। संन्यासी भी कहते हैं – निर्विकारी बनो। वह हद का संन्यास मनुष्य कराते हैं। दूसरे जन्म में फिर गृहस्थी पास जन्म ले फिर घरबार छोड़ चले जाते हैं। सतयुग में यह कृष्ण आदि देवतायें कभी घरबार छोड़ते हैं क्या? नहीं। तो उन्हों का है हद का संन्यास। अभी तुम्हारा है बेहद का संन्यास। सारी दुनिया का, सम्बन्धियों आदि का भी संन्यास करते हो। तुम्हारे लिए अब स्वर्ग की स्थापना हो रही है। तुम्हारी बुद्धि स्वर्ग तरफ ही जायेगी। तो शिवबाबा को ही याद करना है। बेहद का बाप कहते हैं मुझे याद करो। मनमनाभव, मध्याजी भव। तो तुम देवता बन जायेंगे। यह वही गीता का एपीसोड है। संगमयुग भी है। मैं संगम पर ही सुनाता हूँ। राजयोग जरूर आगे जन्म में संगम पर सीखे होंगे। यह सृष्टि बदलती है ना, तुम पतित से पावन बन जाते हो। अब यह है पुरुषोत्तम संगमयुग, जबकि हम ऐसे तमोप्रधान से सतोप्रधान बनते हैं। हर एक बात अच्छी रीति समझकर निश्चय करनी चाहिए। यह कोई मनुष्य थोड़ेही कहते हैं। यह है श्रीमत अर्थात् श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ मत, भगवान की। बाकी सब हैं मनुष्य मत। मनुष्य मत से गिरते आते हो। अब श्रीमत से तुम चढ़ते हो। बाप मनुष्य से देवता बना देते हैं। दैवी मत स्वर्गवासी की है और वह है नर्कवासी मनुष्य मत, जिसको रावण मत कहा जाता है। रावण राज्य भी कोई कम नहीं है। सारी दुनिया पर रावण का राज्य है। यह बेहद की लंका है जिस पर रावण का राज्य है फिर देवताओं का पवित्र राज्य होगा। वहाँ बहुत सुख होता है। स्वर्ग की कितनी महिमा है। कहते भी हैं स्वर्ग पधारा। तो जरूर नर्क में था ना। हेल से गया तो जरूर फिर हेल में ही आयेगा ना! स्वर्ग अभी है कहाँ? यह बातें कोई शास्त्रों में नहीं हैं। अभी बाप तुम्हें सारी नॉलेज देते हैं। बैटरी भरती है। माया फिर लिंक तोड़ देती है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) मन-वचन-कर्म से पवित्र बन आत्मा रूपी बैटरी को चार्ज करना है। पक्का ब्राह्मण बनना है।

2) मनमत वा मनुष्य मत छोड़ एक बाप की श्रीमत पर चलकर स्वयं को श्रेष्ठ बनाना है। सतोप्रधान बन बाप के साथ उड़कर जाना है।

वरदान:- श्रीमत के आधार पर खुशी, शक्ति और सफलता का अनुभव करने वाले सर्व प्राप्ति सम्पन्न भव
जो बच्चे स्वयं को ट्रस्टी समझकर श्रीमत प्रमाण चलते हैं, श्रीमत में जरा भी मनमत या परमत मिक्स नहीं करते उन्हें निरन्तर खुशी, शक्ति और सफलता की अनुभूति होती है। पुरूषार्थ वा मेहनत कम होते भी प्राप्ति ज्यादा हो तब कहेंगे यथार्थ श्रीमत पर चलने वाले। परन्तु माया, ईश्वरीय मत में मनमत वा परमत को रायॅल रूप से मिक्स कर देती है इसलिए सर्व प्राप्तियों का अनुभव नहीं होता। इसके लिए परखने और निर्णय करने की शक्ति धारण करो तो धोखा नहीं खायेंगे।
स्लोगन:- बालक सो मालिक वह है जो तपस्या के बल से भाग्यविधाता बाप को अपना बना दे।

TODAY MURLI 22 JANUARY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 22 January 2020

22/01/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father’s part is accurate. He comes at His own time; there cannot be the slightest difference in the time He comes. Celebrate the memorial of His coming, Shiv Ratri, with a great deal of splendour.
Question: Which children’s sins are not completely absolved?
Answer: Those whose yoga is not accurate. If you are not able to remember the Father, your sins cannot be absolved. If you are not accurately linked in yoga, you cannot have total salvation. Some sins would still remain and so your status would be reduced. If you have no yoga, you would become trapped in someone’s name and form and continue to remember that one and remain unable to become soul conscious.
Song: Who has come today in the early morning hours?

Om shanti. What time is morning? When does He come in the morning, that is, at what time does He come? (Someone said three o’clock, someone said four o’clock, someone else said at the confluence age, then someone said at midnight.) Baba wants to know the accurate time. Midnight is not called morning. A second, or a minute after midnight is said to be a.m. That means, the start of the morning. That is the real morning. His part in the drama is totally accurate. There cannot be a delay of even one second. This drama is eternally predestined. It can’t be said to be a.m. until a second after midnight. These are matters of the unlimited. The Father says: I come in the early morning hours. People abroad have an accurate system of a.m. and p.m. Their intellects are still good. Neither do they become completely satopradhan nor do they become completely tamopradhan. Only the people of Bharat become 100% satopradhan and then 100% tamopradhan. The Father is very accurate. One minute past twelve is the morning. You wouldn’t keep an account of seconds. You couldn’t tell when a second has passed. Only you children understand these things; the world is in total darkness. All of God’s devotees remember Him at the time of sorrow and call out: O Purifier, come! However, none of them knows who He is or when He comes. They are human beings but, because they are impure and tamopradhan, they do not know anything accurately. Lust too is tamopradhan. The unlimited Father has now issued this ordinance: Children, become conquerors of lust and thereby conquerors of the world. If you do not become pure, you will be led to destruction. By becoming pure, you claim an imperishable status. You are studying Raj Yoga. You write the sloganBe holy, be yogi. In fact, you should write: Be a Raj Yogi. The word “yogi” is common. Those who have yoga with the brahm element are also yogis. A child has yoga with his father, a wife has yoga with her husband. Your yoga, however, is Raj Yoga. The Father teaches you Raj Yoga. This is why it is accurate to write Raj Yoga. Be holy and a Raj Yogi. Day by day, you continue to receive corrections. The Father says: Today, I am telling you very deep and good aspects. Shiv Jayanti is now coming. You have to celebrate Shiv Jayanti very well. You can do very good service on Shiv Jayanti. Those who have exhibitions should celebrate Shiv Jayanti very well at their centres or in their homes. They should write: Shiv Baba is the Bestower of the knowledge of the Gita, come and learn the way to attain your unlimited inheritance from the Father. Each of you should light lamps etc. and celebrate Shiv Jayanti in your home. Each home should be a Gita pathshala because you are all the Ganges of knowledge. In every home, people study the Gita. Women are much more involved in devotion than men. There are also many families where everyone studies the Gita. Therefore, you should keep pictures in every home. Write: Come and claim your inheritance from the unlimited Father once again. The festival of Shiv Jayanti is, in fact, your true Deepawali (festival of lights). When Shiva, the Father, comes, there is light in every home. You must light very many lamps on this festival and celebrate it with great splendour. You celebrate the true Deepawali. The final celebration will be at the beginning of the golden age when there will be a lamp in every home, that is, the lamp of every soul will be alight. Here, souls are in darkness; souls have degraded intellects, whereas there, because souls are pure, they have divine intellects. It is souls that become pure and souls that become impure. You souls are now changing from being not worth a penny to being worth a pound. When you souls are pure, you receive pure bodies. Here, souls are impure, and so their bodies and this world are impure. Amongst you, too, there are very few who understand these things accurately and experience happiness inside. Each of you continues to make effort, numberwise. There are omens; sometimes there are the omens of an eclipse of Rahu. They make those who were previously amazed by this knowledge run away. The omens of Jupiter change to the omens of an eclipse of Rahu. When you indulge in vice you come under the omens of an eclipse of Rahu. You have a boxing match. You mothers wouldn’t have seen that, because you are homemakers. You now know that brahmaris (buzzing moths) are said to be those who set up a home; they make a home. Homemaking is a good art. This is why there is the name “homemaker”. Buzzing moths make so much effort. They are also clever homemakers. They make two to three rooms. She brings up three to four moths there. In the same way you Brahminis are also buzzing moths. You can bring one or two, or even ten to twelve, or even one hundred or five hundred here. You can set up a marquee etc. This too would be like setting up a home. You could sit inside it and buzz knowledge to them. Then, some would understand this and change from ants into Brahmins. Some are totally decayed, that is, they do not belong to this religion. Only those who belong to this religion will be touched very well. You are, after all, human beings. Your strength is greater than theirs. You can give lectures to gatherings of two thousand. As you progress, you will also go into gatherings of four or even five thousand. The buzzing moths are compared to you. Sannyasis nowadays go abroad and say that they teach the ancient Raj Yoga of Bharat. Even some women go around dressed in orange robes. They cheat the foreigners so much! They invite them to Bharat to study ancient Raj yoga. You wouldn’t say: Come to Bharat to study this. You will go abroad and sit with them there and tell them: Study this Raj Yoga and you will take birth in heaven. There is no question of you having to change your clothes etc. You just have to forget your body and your bodily relations and consider yourself to be a soul and remember the Father. The Father is the Liberator and the Guide. He liberates everyone from sorrow. You now have to become satopradhan. Previously, you were in the golden age, but you are now in the iron age. The whole world, the people of all religions, are now in the iron age. Tell whomever you meet from any other religion that the Father says: Consider yourself to be a soul, remember Me and you will become pure. I will then take you back home with Me. Just tell them this much, not too much. This is very easy. It says in your scripture that the message was given to every home. There was one who was left out, and so he complained that no one told him. You must beat the drums and announce that the Father has come. Everyone will definitely come to know one day that the Father has come to give them the inheritance of the land of peace and the land of happiness. At the time of deityism, there were no other religions. Everyone else was in the land of peace. Have such thoughts and create such slogans. The Father says: Renounce all consciousness of bodies and all bodily relationships. When you souls consider yourselves to be souls and remember Me, your Father, you will become pure. At present, all souls are impure. The Father has now come as the Guide to purify everyone and then take everyone back home. All will return to their own sections. Then, those of the deity religion will come down here, numberwise. It is so easy! Your intellects have to imbibe all of this. Those who do service cannot remain hidden; nor can those who do disservice remain hidden. Only serviceable ones are invited by everyone. Those who are unable to give anyone knowledge are not invited. They defame Baba’s name. People would then say: Is this what the Brahma Kumaris are like? They are not even able to answer any of the questions. Therefore, it is defamation of Baba’s name, is it not? Those who defame Shiv Baba’s name cannot claim a high status. Even here, some are millionaires, some are multimillionaires whereas others are starving to death. Such beggars will also become princes. Only you children understand how Shri Krishna, who was once the prince of heaven, has now become a beggar. He is again becoming a prince from a beggar. He was a beggar, was he not? He earned a little, but that too was for you children. Otherwise, how would he have been able to look after you? None of these things are mentioned in the scriptures. Only Shiv Baba tells you these things. This one really was a village urchin. His name was not Krishna. That is an aspect that refers to the soul, which is why people become confused. Therefore, Baba says: On Shiv Jayanti, serve every home using pictures. Or, you can write: Come and understand how you can claim the sovereignty of heaven within a second for 21 births. Just as at Diwali people open their shops, in the same way, you have to open a shop of the imperishable jewels of knowledge. Decorate your shop very beautifully. They decorate their shops at Diwali whereas you should do this on Shiv Jayanti because it is Shiv Baba who re-ignites all of your lamps and makes you into the masters of the world. People pray to Lakshmi for perishable wealth, whereas, you receive the sovereignty of the world here from the World Mother. The Father continues to explain all of these secrets to you. The Father does not have any scriptures. The Father says: I am knowledgefull. Yes, I know when some of you are doing service very well, and this is why I remember you, but it isn’t that I know what’s going on inside each of you. Yes, I can sometimes tell that someone is impure. They have doubts; their faces wilt, and so Baba sends a message from up above: ask that person. It is also fixed in the drama for Him to do this for some; but He doesn’t speak about everyone. There are many children who make their faces dirty. Whatever they do, they incur a loss for themselves. If they told the truth, they could at least profit a little. When they don’t tell the truth, they incur an even greater loss. Although you understand that Baba has come to make you beautiful, some of you dirty your faces. This is the world of thorns in which everyone is a human thorn. The golden age is also called the Garden of Allah, whereas this age is called a forest. This is why the Father says: It is when defamation of religion reaches its extremity that I come. Just look what the first Shri Krishna became after taking 84 births. At present, all are tamopradhan; they continue to fight amongst themselves. All of that is fixed in the drama. None of that will exist in heaven. There are many points for you to note down, just as barristers also write down points in their booksDoctors too keep books like this. They consult them and then prescribe the appropriate medicine for each one. Therefore, you children have to study very well; you should also do service. Baba has given you the number one mantra of “Manmanabhav”. Remember the Father and your inheritance and you will become the masters of heaven. People celebrate Shiv Jayanti, but what did Shiv Baba do? He must definitely have given the inheritance of heaven. That was 5000 years ago. That heaven then changed into hell and hell is now to change back into heaven. The Father says: Children, become absorbed in yoga and you will then be able to understand everything very clearly. However, if your yoga isn’t accurate and you don’t remember the Father, you can’t understand anything. Your sins can’t be absolved either. By not remaining absorbed in yoga, you don’t receive as much salvation. Some of your sins will still remain with you and your status will therefore be reduced. There are many who have no yoga at all. They are trapped in the names and forms of others. If you continually remember them, how would your sins be absolved? The Father says: Be soul conscious! Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Open a shop of the imperishable jewels of knowledge on Shiv Jayanti and do service. Enlighten every home and give everyone the Father’s introduction.
  2. You must be honest with the true Father. Don’t hide any of the sins you have committed from the Father. Become absorbed in yoga so that no sins remain. Do not become trapped in anyone’s name and form.
Blessing: May you become a constantly powerful soul by going to the bottom of the ocean and attaining the jewels of experience.
In order to become a powerful soul, practise every speciality, every power and every main point of knowledge in yoga. No type of obstacle can stay in front of a soul who practises everything and is lost in love; therefore sit in the laboratory of practice. Until now, you have only been skimming the surface of the ocean of knowledge, the ocean of virtues and the ocean of powers. Now, go to the bottom of the ocean and you will receive many types of unique jewels of experience and become a powerful soul.
Slogan: Impurity invokes evil spirits of vice and so become pure even in your thoughts.

*** Om Shanti ***

Special homework to experience the avyakt stage in this avyakt month.

Let the foot of your intellect not stay on the ground. It is said that the feet of angels are never on the ground. Similarly, the intellect should remain beyond the ground of the body, that is, beyond the attraction of matter. Become those who make matter dependent, not those who depend on it.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 22 JANUARY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 22 January 2020

22-01-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाप का पार्ट एक्यूरेट है, वह अपने समय पर आते हैं, ज़रा भी फ़र्क नहीं पड़ सकता, उनके आने का यादगार शिवरात्रि खूब धूमधाम से मनाओ”
प्रश्नः- किन बच्चों के विकर्म पूरे-पूरे विनाश नहीं हो पाते?
उत्तर:- जिनका योग ठीक नहीं है, बाप की याद नहीं रहती तो विकर्म विनाश नहीं हो पाते। योगयुक्त न होने से इतनी सद्गति नहीं होती, पाप रह जाते हैं फिर पद भी कम हो जाता है। योग नहीं तो नाम-रूप में फंसे रहते हैं, उनकी ही बातें याद आती रहती हैं, वह देही-अभिमानी रह नहीं सकते।
गीत:- यह कौन आज आया सवेरे सवेरे……

ओम् शान्ति। सवेरा कितने बजे होता है? बाबा सवेरे कितने बजे आते हैं? (कोई ने कहा 3 बजे, कोई ने कहा 4, कोई ने कहा संगम पर, कोई ने कहा 12 बजे) बाबा एक्यूरेट पूछते हैं। 12 को तो तुम सवेरा नहीं कह सकते हो। 12 बजकर एक सेकण्ड हुआ, एक मिनट हुआ तो ए.एम. अर्थात् सवेरा शुरू हुआ। यह बिल्कुल सवेरा है। ड्रामा में इनका पार्ट बिल्कुल एक्यूरेट है। सेकण्ड की भी देरी नहीं हो सकती, यह ड्रामा अनादि बना हुआ है। 12 बजकर एक सेकण्ड जब तक नहीं हुआ है तो ए.एम. नहीं कहेंगे, यह बेहद की बात है। बाप कहते हैं मैं आता हूँ सवेरे-सवेरे। विलायत वालों का ए.एम., पी.एम. एक्यूरेट चलता है। उन्हों की बुद्धि फिर भी अच्छी है। वह इतना सतोप्रधान भी नहीं बनते हैं, तो तमोप्रधान भी नहीं बनते हैं। भारतवासी ही 100 परसेन्ट सतोप्रधान फिर 100 परसेन्ट तमोप्रधान बनते हैं। तो बाप बड़ा एक्युरेट है। सवेरे अर्थात् 12 बजकर एक मिनट, सेकण्ड का हिसाब नहीं रखते। सेकण्ड पास होने में मालूम भी नहीं पड़ता। अब यह बातें तुम बच्चे ही समझते हो। दुनिया तो बिल्कुल घोर अन्धियारे में है। बाप को सभी भक्त दु:ख में याद करते हैं-पतित-पावन आओ। परन्तु वह कौन है? कब आते हैं? यह कुछ भी नहीं जानते। मनुष्य होते हुए एक्यूरेट कुछ नहीं जानते क्योंकि पतित तमोप्रधान हैं। काम भी कितना तमोप्रधान है। अभी बेहद का बाप ऑर्डीनेन्स निकालते हैं – बच्चे कामजीत जगतजीत बनो। अगर अभी पवित्र नहीं बनेंगे तो विनाश को पायेंगे। तुम पवित्र बनने से अविनाशी पद को पायेंगे। तुम राजयोग सीख रहे हो ना। स्लोगन में भी लिखते हैं “बी होली बी योगी।” वास्तव में लिखना चाहिए बी राजयोगी। योगी तो कॉमन अक्षर है। ब्रह्म से योग लगाते हैं, वह भी योगी ठहरे। बच्चा बाप से, स्त्री पुरूष से योग लगाती है परन्तु यह तुम्हारा है राजयोग। बाप राजयोग सिखलाते हैं इसलिए राजयोग लिखना ठीक है। बी होली एण्ड राजयोगी। दिन-प्रतिदिन करेक्शन तो होती रहती है। बाप भी कहते हैं आज तुमको गुह्य से गुह्य बातें सुनाता हूँ। अब शिव जयन्ती भी आने वाली है। शिव जयन्ती तो तुमको अच्छी रीति मनानी है। शिव जयन्ती पर तो बहुत अच्छी रीति सर्विस करनी है। जिनके पास प्रदर्शनी है, सभी अपने-अपने सेन्टर पर अथवा घर में शिव जयन्ती अच्छी रीति मनाओ और लिख दो-शिवबाबा गीता ज्ञान दाता बाप से बेहद का वर्सा लेने का रास्ता आकर सीखो। भल बत्तियाँ आदि भी जला दो। घर-घर में शिव जयन्ती मनानी चाहिए। तुम ज्ञान गंगायें हो ना। तो हर एक के पास गीता पाठशाला होनी चाहिए। घर-घर में गीता तो पढ़ते हैं ना। पुरूषों से भी मातायें भक्ति में तीखी होती हैं। ऐसे कुटुम्ब (परिवार) भी होते हैं जहाँ गीता पढ़ते हैं। तो घर में भी चित्र रख देने चाहिए। लिख दें कि बेहद के बाप से आकर फिर से वर्सा लो।

यह शिव जयन्ती का त्योहार वास्तव में तुम्हारी सच्ची दीपावली है। जब शिव बाप आते हैं तो घर-घर में रोशनी हो जाती है। इस त्योहार को खूब बत्तियाँ आदि जलाकर रोशनी कर मनाओ। तुम सच्ची दीपावली मनाते हो। फाइनल तो होना है सतयुग में। वहाँ घर-घर में रोशनी ही रोशनी होगी अर्थात् हर आत्मा की ज्योत जगी रहती है। यहाँ तो अन्धियारा है। आत्मायें आसुरी बुद्धि बन पड़ी है। वहाँ आत्मायें पवित्र होने से दैवी बुद्धि रहती हैं। आत्मा ही पतित, आत्मा ही पावन बनती है। अभी तुम वर्थ नाट ए पेनी से पाउण्ड बन रहे हो। आत्मा पवित्र होने से शरीर भी पवित्र मिलेगा। यहाँ आत्मा अपवित्र है तो शरीर और दुनिया भी इमप्योर है। इन बातों को तुम्हारे में से कोई थोड़े हैं जो यथार्थ रीति समझते हैं और उनके अन्दर खुशी होती है। नम्बरवार पुरूषार्थ तो करते रहते हैं। ग्रहचारी भी होती है। कभी राहू की ग्रहचारी बैठती है तो आश्चर्यवत् भागन्ती हो जाते हैं। बृहस्पति की दशा से बदलकर ठीक राहू की दशा बैठ जाती है। काम विकार में गया और राहू की दशा बैठी। मल्लयुद्ध होती है ना। तुम माताओं ने देखा नहीं होगा क्योंकि मातायें होती हैं घर की घरेत्री। अब तुमको मालूम है भ्रमरी को घरेत्री अर्थात् घर बनाने वाली कहते हैं। घर बनाने का अच्छा कारीगर है, इसलिए घरेत्री नाम है। कितनी मेहनत करती है। वो भी पक्का मिस्त्री है। दो-तीन कमरा बनाती है। 3-4 कीड़े ले आती है। वैसे तुम भी ब्राह्मणियाँ हो। चाहे 1-2 को बनाओ, चाहे 10-12 को, चाहे 100 को, चाहे 500 को बनाओ। मण्डप आदि बनाते हो, यह भी घर बनाना हुआ ना। उनमें बैठ सबको भूँ-भूँ करते हो। फिर कोई तो समझकर कीड़े से ब्राह्मण बनते हैं, कोई सड़ा हुआ निकलते हैं अर्थात् इस धर्म के नहीं हैं। इस धर्म वालों को ही पूरी रीति टच होगा। तुम तो फिर भी मनुष्य हो ना। तुम्हारी ताकत उनसे (भ्रमरी से) तो जास्ती है। तुम 2 हज़ार के बीच में भी भाषण कर सकते हो। आगे चल 4-5 हज़ार की सभा में भी तुम जायेंगे। भ्रमरी की तुम्हारे से भेंट है। आजकल सन्यासी लोग भी बाहर विदेशों में जाकर कहते हैं हम भारत का प्राचीन राजयोग सिखाते हैं। आजकल मातायें भी गेरू कफनी पहनकर जाती हैं, फॉरेनर्स को ठगकर आती हैं। उनको कहती हैं भारत का प्राचीन राजयोग भारत में चलकर सीखो। तुम ऐसे थोड़ेही कहेंगे कि भारत में चलकर सीखो। तुम तो फॉरेन में जायेंगे तो वहाँ ही बैठ समझायेंगे – यह राजयोग सीखो तो स्वर्ग में तुम्हारा जन्म हो जायेगा। इसमें कपड़ा आदि बदलने की बात नहीं है। यहाँ ही देह के सब सम्बन्ध भूल अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। बाप ही लिबरेटर गाइड है, सबको दु:ख से लिबरेट करते हैं।

अभी तुमको सतोप्रधान बनना है। तुम पहले गोल्डन एज में थे, अब आइरन एज में हो। सारी वर्ल्ड, सभी धर्म वाले आइरन एज में हैं। कोई भी धर्म वाला मिले, उनको कहना है बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझ मुझे याद करो तो तुम पावन बन जायेंगे, फिर मैं साथ ले जाऊंगा। बस, इतना ही बोलो, जास्ती नहीं। यह तो बहुत सहज है। तुम्हारे शास्त्रों में भी है कि घर-घर में सन्देश दिया। कोई एक रह गया तो उसने उल्हना दिया मुझे कोई ने बताया नहीं। बाप आये हैं, तो पूरा ढिंढोरा पीटना चाहिए। एक दिन जरूर सबको पता पड़ेगा कि बाप आये हैं – शान्तिधाम-सुखधाम का वर्सा देने। बरोबर जब डिटीज्म था तो और कोई धर्म नहीं था। सभी शान्तिधाम में थे। ऐसे-ऐसे ख्यालात चलने चाहिए, स्लोगन बनाने चाहिए। बाप कहते हैं देह सहित सब सम्बन्धों को छोड़ो। अपने को आत्मा समझ मुझ बाप को याद करो तो आत्मा पवित्र बन जायेगी। अभी आत्मायें अपवित्र हैं। अभी सबको पवित्र बनाए बाप गाइड बन वापिस ले जायेंगे। सब अपने-अपने सेक्शन में चले जायेंगे। फिर डीटी धर्म वाले नम्बरवार आयेंगे। कितना सहज है। यह तो बुद्धि में धारण होना चाहिए। जो सर्विस करते हैं, वह छिपे नहीं रह सकते। डिस-सर्विस करने वाले भी छिप नहीं सकते। सर्विसएबुल को तो बुलाते हैं। जो कुछ भी ज्ञान नहीं सुना सकते उनको थोड़ेही बुलायेंगे। वह तो और ही नाम बदनाम कर देंगे। कहेंगे बी.के. ऐसे होते हैं क्या? पूरा रेसपॉन्ड भी नहीं करते। तो नाम बदनाम हुआ ना। शिवबाबा का नाम बदनाम करने वाले ऊंच पद पा न सकें। जैसे यहाँ भी कोई तो करोड़पति हैं, पद्मपति भी हैं, कोई तो देखो भूख मर रहे हैं। ऐसे बेगर्स भी आकर प्रिन्स बनेंगे। अभी तुम बच्चे ही जानते हो वही श्रीकृष्ण जो स्वर्ग का प्रिन्स था वह फिर बेगर बनते हैं, फिर बेगर टू प्रिन्स बनेंगे। यह बेगर थे ना, थोड़ा-बहुत कमाया – वह भी तुम बच्चों के लिए। नहीं तो तुम्हारी सम्भाल कैसे हो? यह सब बातें शास्त्रों में थोड़ेही हैं। शिवबाबा ही आकर बतलाते हैं। बरोबर यह गांव का छोरा था। नाम कोई श्रीकृष्ण नहीं था। यह आत्मा की बात है इसलिए मनुष्य मूंझे हुए हैं। तो बाबा ने समझाया शिवजयन्ती पर हर एक घर-घर में चित्रों पर सर्विस करें। लिख दें कि बेहद के बाप से 21 जन्मों के लिए स्वर्ग की बादशाही सेकण्ड में कैसे मिलती है, सो आकर समझो। जैसे दीवाली पर मनुष्य बहुत दुकान निकाल बैठते हैं, तुमको फिर अविनाशी ज्ञान रत्नों का दुकान निकाल बैठना है। तुम्हारा कितना अच्छा सजाया हुआ दुकान होगा। मनुष्य दीवाली पर करते हैं, तुम फिर शिवजयन्ती पर करो। जो शिवबाबा सबके दीप जगाते हैं, तुमको विश्व का मालिक बनाते हैं। वह तो लक्ष्मी से विनाशी धन माँगते हैं और यहाँ जगत अम्बा से तुमको विश्व की बादशाही मिलती है। यह राज़ बाप समझाते हैं। बाबा कोई शास्त्र थोड़ेही उठाते हैं। बाप कहते हैं मैं नॉलेजफुल हूँ ना। हाँ, यह जानते हैं, फलाने-फलाने बच्चे सर्विस बहुत अच्छी करते हैं इसलिए याद पड़ती है। बाकी ऐसे नहीं कि एक-एक के अन्दर को बैठ जानता हूँ। हाँ, कोई समय पता पड़ जाता है-यह पतित है, शक पड़ता है। उनकी शक्ल ही मायूस हो जाती है तो ऊपर से बाबा भी कहला भेजता है, इनसे पूछो। यह भी ड्रामा में नूंध है। जो कोई-कोई के लिए बताते हैं, बाकी ऐसे नहीं सबके लिए बतायेंगे। ऐसे तो ढेर हैं, काला मुंह करते हैं। जो करेंगे सो अपना ही नुकसान करेंगे। सच बतलाने से कुछ फायदा होगा, नहीं बताने से और ही नुकसान करेंगे। समझना चाहिए बाबा हमको गोरा बनाने आये हैं और हम फिर काला मुंह कर लेते हैं! यह है ही काँटों की दुनिया। ह्यूमन काँटे हैं। सतयुग को कहा जाता है गार्डन ऑफ अल्लाह और यह है फॉरेस्ट इसलिए बाप कहते हैं जब-जब धर्म की ग्लानि होती है, तब मैं आता हूँ। फर्स्ट नम्बर श्रीकृष्ण देखो फिर 84 जन्मों के बाद कैसा बन जाता है। अभी सब हैं तमोप्रधान। आपस में लड़ते रहते हैं। यह सब ड्रामा में है। फिर स्वर्ग में यह कुछ नहीं होगा। प्वाइंट्स तो ढेर की ढेर हैं, नोट करनी चाहिए। जैसे बैरिस्टर लोग भी प्वाइंट्स का बुक रखते हैं ना। डॉक्टर लोग भी किताब रखते हैं, उसमें देखकर दवाई देते हैं। तो बच्चों को कितना अच्छी रीति पढ़ना चाहिए, सर्विस करनी चाहिए। बाबा ने नम्बरवन मंत्र दिया है मन्मनाभव। बाप और वर्से को याद करो तो स्वर्ग के मालिक बन जायेंगे। शिव जयन्ती मनाते हैं। परन्तु शिवबाबा ने क्या किया? जरूर स्वर्ग का वर्सा दिया होगा। उसको 5 हज़ार वर्ष हुए। स्वर्ग से नर्क, नर्क से स्वर्ग बनेगा।

बाप समझाते हैं-बच्चे, योगयुक्त बनो तो तुम्हें हर बात अच्छी तरह समझ में आयेगी। परन्तु योग ठीक नहीं है, बाप की याद नहीं रहती तो कुछ समझ नहीं सकते। विकर्म भी विनाश नहीं हो पाते। योगयुक्त न होने से इतनी सद्गति भी नहीं होती है, पाप रह जाते हैं। फिर पद भी कम हो जाता है। बहुत हैं, योग कुछ भी नहीं है, नाम-रूप में फँसे रहते हैं, उनकी ही याद आती रहेगी तो विकर्म विनाश कैसे होंगे? बाप कहते हैं देही-अभिमानी बनो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) शिव जयन्ती पर अविनाशी ज्ञान रत्नों का दुकान निकाल सेवा करनी है। घर-घर में रोशनी कर सबको बाप का परिचय देना है।

2) सच्चे बाप से सच्चा होकर रहना है, कोई भी विकर्म करके छिपाना नहीं है। ऐसा योगयुक्त बनना है, जो कोई भी पाप रह न जायें। किसी के भी नाम-रूप में नहीं फँसना है।

वरदान:- सागर के तले में जाकर अनुभव रूपी रत्न प्राप्त करने वाले सदा समर्थ आत्मा भव
समर्थ आत्मा बनने के लिए योग की हर विशेषता का, हर शक्ति का और हर एक ज्ञान की मुख्य पाइंट का अभ्यास करो। अभ्यासी, लगन में मगन रहने वाली आत्मा के सामने किसी भी प्रकार का विघ्न ठहर नहीं सकता इसलिए अभ्यास की प्रयोगशाला में बैठ जाओ। अभी तक ज्ञान के सागर, गुणों के सागर, शक्तियों के सागर में ऊपर-ऊपर की लहरों में लहराते हो, लेकिन अब सागर के तले में जाओ तो अनेक प्रकार के विचित्र अनुभव के रत्न प्राप्त कर समर्थ आत्मा बन जायेंगे।
स्लोगन:- अशुद्धि ही विकार रूपी भूतों का आह्वान करती है इसलिए संकल्पों से भी शुद्ध बनो।

अव्यक्त स्थिति का अनुभव करने के लिए विशेष होमवर्क

बुद्धि रुपी पांव पृथ्वी पर न रहें। जैसे कहावत है कि फरिश्तों के पांव पृथ्वी पर नहीं होते। ऐसे बुद्धि इस देह रुपी पृथ्वी अर्थात् प्रकृति की आकर्षण से परे रहे। प्रकृति को अधीन करने वाले बनो न कि अधीन होने वाले।

TODAY MURLI 21 JANUARY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 21 January 2020

21/01/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are the ones who rain knowledge and make everything green. You have to imbibe this knowledge and inspire others to do the same.
Question: What would clouds that do not rain be called?
Answer: They are lazy clouds. Active clouds are those that rain. If they have imbibed knowledge, they cannot remain without showering it on others. For those who do not imbibe knowledge or inspire others to do so, it is as though their stomachs stick to their backs. They are poor and they will become subjects.
Question: What is the main effort you have to make on this pilgrimage of remembrance?
Answer: To consider yourself to be a soul and to remember the Father in the form of a point. To remember the Father accurately as He is, in His real form, takes effort.
Song: The rain of knowledge is for those who are with the Beloved.

Om shanti. Clouds are above the ocean and the Father of clouds is the ocean. The shower of rain is only for the clouds that are with the Ocean. Those clouds fill themselves with water and then rain. You also come to the Ocean in order to fill yourselves. You children of the Ocean are clouds anyway and this is why you are able to absorb this sweet water. There are many types of cloud. Some rain very heavily and cause a flood whereas some rain very little. You too are numberwise. Those who rain very heavily are remembered. When there is a lot of rain, people become very happy. Here, too, those who rain a great deal are praised. Those who do not even rain become lazy hearted. They are unable to fill their stomachs. Because they are not able to imbibe this knowledge well, their stomachs stick to their backs. When there is a famine, the stomachs of people stick to their backs. Here, too, if you do not imbibe this knowledge or inspire others to imbibe it, your stomach sticks to your back. Those who rain a lot now become the kings and queens; the others become poor. The stomachs of the poor stick to their backs. Therefore, you children should imbibe this knowledge very well. The knowledge of souls and the Supreme Soul is so simple! You now understand that you previously had no knowledge of souls or the Supreme Soul, and so your stomachs stuck to your backs. The main aspects are of souls and the Supreme Soul. People don’t know what a soul is, and so how could they know about the Supreme Soul? There are many scholars and pundits etc.; they do not know about souls. You have now come to know that you are imperishable souls and are filled with imperishable parts of 84 births which continue to repeat. Souls are imperishable and so their parts are also imperishable. No one knows how you souls play all-round parts. People just say that the soul is the Supreme Soul. You children have all the knowledge from the beginning to the very end. They say that the duration of the drama is hundreds of thousands of years. You have now received the entire knowledge. You know that the whole of this old world is to be sacrificed in the sacrificial fire of knowledge created by the Father. That is why the Father says: Forget everything including your own bodies. Consider yourselves to be souls. Remember the Father and your sweet home, the land of peace. This is the land of sorrow. You are able to explain to others, numberwise, according to the effort you make. You are now being filled with this knowledge, but your efforts lie in having remembrance. It takes great effort to finish the body consciousness of many births and become soul conscious. Although it is very easy to speak about this, it takes effort to consider yourself to be a soul and to remember the Father in the form of a point. The Father says: Scarcely anyone remembers Me as I am or who I am. As is the Father, so His children. If you know yourself as you are, you will also know the Father as He is. You know that there is only the one Father who teaches whereas there are many who study. Only you children know how the Father establishes the kingdom. However, all of those scriptures etc. are the paraphernalia of the path of devotion. We have to say this in order to explain to others, but there is no question in this of disliking anything. The day and the night of Brahma are even mentioned in the scriptures, but people do not understand anything. The day and night are half and half. It is explained very easily in the picture of the ladder. People believe that God is so powerful that He can do whatever He wants, but Baba says: I too am bound by this drama. Bharat continues to have so many difficulties, so do I keep coming here again and again? There is a limit to My part. It is only when there is complete sorrow that I then come, according to My own time. There cannot be the difference of even a second. Everyone’s part is fixed accurately in the drama. This is the reincarnation of the highest Father. Then, those who have less power continue to come down, numberwise. You children have now received knowledge from the Father through which you are becoming the masters of the world. You gain the full force of that power. By making effort, you become satopradhan from tamopradhan. This is not in the parts of others. The main thing is the drama, the knowledge of which you have now received. Everything else is material, because you can see all of that with your physical eyes. Baba is the Wonder of the World and He creates heaven which is also called Paradise. There is so much praise of Him. There is great praise of the Father and His creation. The Highest on High is God. No one knows how the Father creates the highest heaven of all. You sweetest children only understand this, numberwise, and claim a status according to the efforts you make. Whatever efforts you make, you do that according to the drama. You cannot receive anything without making effort. You cannot remain for even a second without performing an act. Those hatha yogis exercise breath control; it is as though they are dead. They simply stay in their caves while dust settles on them. When water falls on them, grass begins to grow, but what benefit is there in that? For how many days can they remain sitting like that? They definitely have to act. No one can become a renunciate of action. It is because they don’t prepare food etc. for themselves that they call themselves renunciates of actions. This too is in their parts in the drama. If those people of the path of isolation did not exist, what would Bharat’s condition have become? Bharat was number one pure. The Father first of all creates purity which lasts for half a cycle. There was definitely one religion and one kingdom in the golden age; that deity kingdom is now being established once again. You should invent such good slogans that they awaken people: Come and claim your fortune of the deity kingdom again. You now understand this very well. You also now know why Krishna is called “The ugly and the beautiful one”. Nowadays, many people are given such names. They are in competition with Krishna. You children know how impure kings go in front of the idols of pure kings and bow their heads; they do not know anything. You children understand that it is those who were worthy of worship who then become worshippers. The entire cycle is now in your intellects. Even if you remember this much, your stage will remain very good. However, Maya does not allow you to remember; she makes you forget. If your stage remains constantly cheerful, you will be called deities. People become so happy on seeing the picture of Lakshmi and Narayan. They do not become as happy on seeing the picture of Radhe and Krishna or Rama etc. because many aspects of upheaval have been written about Shri Krishna in the scriptures. This Baba becomes Shri Narayan. Baba becomes very happy on seeing the picture of Lakshmi and Narayan. You children should also understand how long you will remain in your old bodies before you go and become princes. This is your aim and objective. Only you know this. Happiness should be bubbling up inside you. To the extent that you study, accordingly you will claim a high status. What status would you claim if you do not study? Just look at the status of the emperors of the world, the status of the wealthy subjects and the status of the servants. There is only one subject; it is simply “Manmanabhav and Madhyajibhav”. It is Alpha and beta, knowledge and yoga. This Baba has so much happiness. He found Allah and gave away everything. He won such a huge lottery. What else would he need? So, why should you children also not have this happiness inside you? This is why the Father says: Create such “translight pictures for everyone, so that children become happy on seeing them. Shiv Baba is giving us this inheritance through Brahma. Human beings don’t know anything. They have totally degraded intellects. From having degraded intellects you are now becoming those with pure, clean intellects. You have come to know everything; there is no need to study anything else. You receive the sovereignty of the world through this study. This is why the Father is called knowledge-full. People believe that He knows everything in each one’s heart. However, the Father gives knowledge. A teacher can understand to what extent each one studies. He does not sit there the whole day watching what’s going on in each one’s intellect. This knowledge is wonderful! The Father is called the Ocean of Knowledge and the Ocean of Peace and Happiness. You are now becoming master oceans of knowledge. You will not have these titles there. You will become completely virtuous, 16 celestial degrees full, full of all virtues. This is the highest status of a human being. At present you have a Godly status. You have to understand this and also explain it to others. You should experience a great deal of happiness when you see the picture of Lakshmi and Narayan. We will now become masters of the world like them. It is through knowledge that you receive all the virtues. You become refreshed by seeing your aim and objective. Therefore, the Father says that everyone should have a picture of Lakshmi and Narayan. This picture increases the love in your hearts. It enters your hearts that you are in your last birth in the land of death and that you will become like them in the land of immortality. This applies to you as well. It is not that souls are the Supreme Soul; no. All of this knowledge should remain in your intellects. When you explain to others, tell them: We do not ask anyone for anything. There are many children of Prajapita Brahma. We do service with our minds, bodies and wealth. We Brahmins keep this yagya going with our own earnings. We cannot use the money of shudras. There are countless children. Each of us knows that we will claim a status to the extent that we surrender our minds, bodies and wealth for service. You know that it is because Baba has sown the seeds that he becomes Narayan. The money is not going to be of any use here, and so why should I not use it for this task? Did those who surrendered everything starve to death? They were looked after very well. Baba is also looked after so well. This is the chariot of Shiv Baba, the One who makes the whole world into heaven. That One is the Beautiful Traveller. The Supreme Soul comes here to make everyone beautiful. He changes you from ugly to beautiful. He is such a handsome Bridegroom. He comes and makes everyone beautiful. You have to sacrifice yourself to Him. Continue to remember Him. Just as you cannot see a soul but you can understand it, in the same way, you can understand the Supreme Soul. Souls and the Supreme Soul are identical in appearance, just points; all the rest is knowledge. These are matters of deep understanding. You children should note down these points in your intellects. Your intellects imbibe this knowledge, numberwise, according to the efforts you make. Doctors are able to remember medicines. It is not that they start consulting their books at that time. Doctors have points; barristers have points. You also have points of this knowledge. There are plenty of topics that you can explain. Any point can bring benefit to someone. Some are struck by an arrow with one point and others with another point. There are many points. Those who imbibe these points very well will be able to do very good service. You have been very sick patients for half a cycle. Souls have become impure and so the one eternal Surgeon gives you medicine. He is always the Surgeon; He never falls ill Himself. Everyone else becomes ill. The eternal Surgeon only comes once, at this age, and gives you the injection of “Manmanabhav”. It is very easy. Always have this picture in your pocket. Baba used to worship Narayan before. He removed Lakshmi’s image from the picture and kept an image of Narayan alone. He understood that he is now becoming the same one whom he used to worship. He gave leave to Lakshmi (removed her image from the picture). It was certain that he was not going to become Lakshmi. He did not like Lakshmi massaging the feet of Narayan in that picture. When men saw this, they asked their wives to massage their feet. Lakshmi does not massage Narayan’s feet there. This custom and system does not exist there. This system belongs to the kingdom of Ravan. The whole knowledge is in this picture. There is the Trimurti at the top. There is great amazement in remembering this knowledge throughout the day. Bharat is now becoming heaven. This is a very good explanation, yet it is not known why it doesn’t sit in the intellects of human beings. There will be a blaze of fire with full force; the haystack has to be set on fire. The kingdom of Ravan definitely has to be destroyed. Pure Brahmins are needed for this yagya. This is the greatest sacrificial fire: it brings about purity throughout the whole world. Although those brahmins call themselves children of Brahma, they are born through vice. The children of Brahma are pure, mouth-born creations. Therefore, explain this to them. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Make your intellect clean and imbibe this wonderful knowledge and thereby become a master ocean of knowledge, like the Father. Imbibe all the virtues through this knowledge.
  2. Just as Baba surrendered his body, mind and wealth and used them for service, so, like the father you have to use everything in a worthwhile way for God’s service. In order to remain constantly refreshed, keep a picture of your aim and objective with you.
Blessing: May you be an accurate yogi who keeps your speed of effort intense and your brakes powerful in order to pass with honours.
According to the present time, your speed of effort has to be intense and your brakes have to be powerful, for only then will you be able to pass with honours at the end because the circumstances at that time will put many thoughts into your intellect. At that time, you need to have the practice of going beyond all thoughts and remaining stable in one thought. At that time when your intellect scatters in all direction you need to be able to put a stop to it: to say “stop” and you stop. To stabilise your intellect in one thought whenever you want and however you want is to have accurate yoga.
Slogan: You are obedient servants and so you cannot be careless. A servant means one who is always present on service.

*** Om Shanti ***

Special homework to experience the avyakt stage in this avyakt month.

In order for you to stay in the avyakt stage, the Father’s shrimat is: Children, think less but do more. Finish all confusion and become bright and clear. Merge the ashes of old situations and old sanskars into the ocean of your complete stage. Finish old matters in such a way as you forget matters of the old birth.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 21 JANUARY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 21 January 2020

21-01-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम ज्ञान की बरसात कर हरियाली करने वाले हो, तुम्हें धारणा करनी और करानी है”
प्रश्नः- जो बादल बरसते नहीं हैं, उन्हें कौन-सा नाम देंगे?
उत्तर:- वह हैं सुस्त बादल। चुस्त वह जो बरसते हैं। अगर धारणा हो तो बरसने के बिना रह नहीं सकते। जो धारणा कर दूसरों को नहीं कराते उनका पेट पीठ से लग जाता है, वह गरीब हैं। प्रजा में चले जाते हैं।
प्रश्नः- याद की यात्रा में मुख्य मेहनत कौन-सी है?
उत्तर:- अपने को आत्मा समझ बाप को बिन्दु रूप में याद करना, बाप जो है जैसा है उसी स्वरूप से यथार्थ याद करना, इसमें ही मेहनत है।
गीत:- जो पिया के साथ है…….. 

ओम् शान्ति। जैसे सागर के ऊपर में बादल हैं तो बादलों का बाप हुआ सागर। जो बादल सागर के साथ हैं उनके लिए ही बरसात है। वह बादल भी पानी भरकर फिर बरसते हैं। तुम भी सागर के पास आते हो भरने के लिए। सागर के बच्चे बादल तो हो ही, जो मीठा पानी खींच लेते हो। अब बादल भी अनेक प्रकार के होते हैं। कोई खूब जोर से बरसते हैं, बाढ़ कर देते हैं, कोई कम बरसते हैं। तुम्हारे में भी ऐसे नम्बरवार हैं जो खूब जोर से बरसते हैं, उनका नाम भी गाया जाता है। जैसे वर्षा बहुत होती है तो मनुष्य खुश होते हैं। यह भी ऐसे है। जो अच्छा बरसते हैं, उनकी महिमा होती है, जो नहीं बरसते हैं उनकी दिल जैसे सुस्त हो जाती है, पेट भरेगा नहीं। पूरी रीति धारणा न होने से पेट जाकर पीठ से लगता है। फैमन होता है तो मनुष्यों का पेट पीठ से लग जाता है। यहाँ भी धारणा कर और धारणा नहीं कराते हैं तो पेट जाकर पीठ से लगेगा। खूब बरसने वाले जाकर राजा-रानी बनेंगे और वह गरीब। गरीबों का पेट पीठ से रहता है। तो बच्चों को धारणा बड़ी अच्छी करनी चाहिए। इसमें भी आत्मा और परमात्मा का ज्ञान कितना सहज है। तुम अब समझते हो हमारे में आत्मा और परमात्मा दोनों का ज्ञान नहीं था। तो पेट पीठ से लग गया ना। मुख्य है ही आत्मा और परमात्मा की बात। मनुष्य आत्मा को ही नहीं जानते हैं तो परमात्मा को फिर कैसे जान सकेंगे। कितने बड़े विद्वान, पण्डित आदि हैं, कोई भी आत्मा को नहीं जानते। अब तुमको मालूम हुआ है कि आत्मा अविनाशी है, उसमें 84 जन्मों का अविनाशी पार्ट नूंधा हुआ है, जो चलता रहता है। आत्मा अविनाशी तो पार्ट भी अविनाशी है। आत्मा कैसा आलराउन्ड पार्ट बजाती है-यह किसको पता नहीं है। वह तो आत्मा सो परमात्मा कह देते हैं। तुम बच्चों को आदि से लेकर अन्त तक पूरा ज्ञान है। वह तो ड्रामा की आयु ही लाखों वर्ष कह देते। अभी तुमको सारा ज्ञान मिला है। तुम जानते हो इस बाप के रचे हुए ज्ञान यज्ञ में यह सारी दुनिया स्वाह: होनी है इसलिए बाप कहते हैं देह सहित जो कुछ भी है यह सब भूल जाओ, अपने को आत्मा समझो। बाप को और शान्तिधाम, स्वीट होम को याद करो। यह तो है ही दु:खधाम। तुम्हारे में भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार समझा सकते हैं। अभी तुम ज्ञान से तो भरपूर हो। बाकी सारी मेहनत है याद में। जन्म-जन्मान्तर का देह-अभिमान मिटाकर देही-अभिमानी बनें, इसमें बड़ी मेहनत है। कहना तो बड़ा सहज है परन्तु अपने को आत्मा समझें और बाप को भी बिन्दु रूप में याद करें, इसमें मेहनत है। बाप कहते हैं मैं जो हूँ, जैसा हूँ, ऐसा कोई मुश्किल याद कर सकते हैं। जैसे बाप वैसे बच्चे होते हैं ना। अपने को जाना तो बाप को भी जान जायेंगे। तुम जानते हो पढ़ाने वाला तो एक ही बाप है, पढ़ने वाले बहुत हैं। बाप राजधानी कैसे स्थापन करते हैं, वह तुम बच्चे ही जानते हो। बाकी यह शास्त्र आदि सब हैं भक्ति मार्ग की सामग्री। समझाने के लिए हमको कहना पड़ता है। बाकी इसमें घृणा की कोई बात नहीं है। शास्त्रों में भी ब्रह्मा का दिन और रात कहते हैं परन्तु समझते नहीं। रात और दिन आधा-आधा होता है। सीढ़ी पर कितना सहज समझाया जाता है।

मनुष्य समझते हैं कि भगवान तो बड़ा समर्थ है वह जो चाहे सो कर सकते हैं। लेकिन बाबा कहते मैं भी ड्रामा के बंधन में बांधा हुआ हूँ। भारत पर तो कितनी आफतें आती रहती हैं फिर मैं घड़ी-घड़ी आता हूँ क्या? मेरे पार्ट की लिमिट है। जब पूरा दु:ख होता जाता है तब मैं अपने समय पर आता हूँ। एक सेकण्ड का भी फ़र्क नहीं पड़ता है। ड्रामा में हर एक का एक्यूरेट पार्ट नूँधा हुआ है। यह है हाइएस्ट बाप की रीइनकारनेशन। फिर नम्बरवार सब आते हैं, कम ताकत वाले। तुम बच्चों को अभी बाप से नॉलेज मिली है जो तुम विश्व के मालिक बनते हो। तुम्हारे में फुल फोर्स की ताकत आती है। पुरूषार्थ कर तुम तमोप्रधान से सतोप्रधान बनते हो। औरों का तो पार्ट ही नहीं है। मुख्य है ड्रामा, जिसकी नॉलेज तुमको अभी मिलती है। बाकी तो सब हैं मटेरियल क्योंकि वह सब इन आखों से देखा जाता है। वन्डर ऑफ दी वर्ल्ड तो बाबा है, जो फिर रचते भी स्वर्ग हैं, जिसको हेविन, पैराडाइज कहते हैं। उनकी कितनी महिमा है, बाप और बाप के रचना की बड़ी महिमा है। ऊंच ते ऊंच है भगवान। ऊंच ते ऊंच स्वर्ग की स्थापना बाप कैसे करते हैं, यह कोई भी कुछ भी नहीं जानते हैं। तुम मीठे-मीठे बच्चे भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार जानते हो और उस अनुसार ही पद पाते हो, जिसने पुरूषार्थ किया वह ड्रामा अनुसार ही करते हैं। पुरूषार्थ बिगर तो कुछ मिल न सके। कर्म बिगर एक सेकण्ड भी रह नहीं सकते। वह हठयोगी प्राणायाम चढ़ा लेते हैं, जैसे जड़ बन जाते हैं, अन्दर पड़े रहते हैं, ऊपर मिट्टी जम जाती है, मिट्टी के ऊपर पानी पड़ने से घास जम जाती है। परन्तु इससे कुछ फायदा नहीं। कितना दिन ऐसे बैठे रहेंगे? कर्म तो जरूर करना ही है। कर्म सन्यासी कोई बन न सके। हाँ, सिर्फ खाना आदि नहीं बनाते हैं इसलिए उनको कर्म-सन्यासी कह देते हैं। यह भी उन्हों का ड्रामा में पार्ट है। यह निवृत्ति मार्ग वाले भी नहीं होते तो भारत की क्या हालत हो जाती? भारत नम्बरवन प्योर था। बाप पहले-पहले प्योरिटी स्थापन करते हैं, जो फिर आधाकल्प चलती है। बरोबर सतयुग में एक धर्म, एक राज्य था। फिर डीटी राज्य अब फिर से स्थापन हो रहा है। ऐसे अच्छे-अच्छे स्लोगन बनाकर मनुष्यों को सुजाग करना चाहिए। फिर से डीटी राज्य-भाग्य आकर लो। अभी तुम कितना अच्छी रीति समझते हो। कृष्ण को श्याम-सुन्दर क्यों कहते हैं-यह भी अभी तुम जानते हो। आजकल तो बहुत ही ऐसे-ऐसे नाम रख देते हैं। कृष्ण से कॉम्पीटीशन करते हैं। तुम बच्चे जानते हो पतित राजायें कैसे पावन राजाओं के आगे जाकर माथा टेकते हैं परन्तु जानते थोड़ेही हैं। तुम बच्चे जानते हो जो पूज्य थे वही फिर पुजारी बन जाते हैं। अभी तुम्हारी बुद्धि में सारा चक्र है। यह भी याद रहे तो अवस्था बड़ी अच्छी रहे। परन्तु माया सिमरण करने नहीं देती है, भुला देती है। सदैव हर्षितमुख अवस्था रहे तो तुमको देवता कहा जाए। लक्ष्मी-नारायण का चित्र देख कितना खुश होते हैं। राधे-कृष्ण अथवा राम आदि को देख इतना खुश नहीं होते क्योंकि श्रीकृष्ण के लिए शास्त्रों में हंगामें की बातें लिख दी हैं। यह बाबा बनता भी श्री नारायण है ना। बाबा तो इन लक्ष्मी-नारायण के चित्र को देख खुश होते हैं। बच्चों को भी ऐसे समझना चाहिए, बाकी कितना समय इस पुराने शरीर में होंगे फिर जाकर प्रिन्स बनेंगे। यह एम ऑबजेक्ट है ना। यह भी सिर्फ तुम जानते हो। खुशी में कितना गद्गद् होना चाहिए। जितना पढ़ेंगे उतना ऊंच पद पायेंगे, पढ़ेंगे नहीं तो क्या पद मिलेगा? कहाँ विश्व के महाराजा-महारानी, कहाँ साहूकार, प्रजा में नौकर-चाकर। सब्जेक्ट तो एक ही है। सिर्फ मन्मनाभव, मध्याजी भव, अल्फ और बे, याद और ज्ञान। इनको कितनी खुशी हुई-अल्फ को अल्लाह मिला, बाकी सब दे दिया। कितनी बड़ी लॉटरी मिल गई। बाकी क्या चाहिए! तो क्यों न बच्चों के अन्दर में खुशी रहनी चाहिए इसलिए बाबा कहते हैं ऐसा ट्रांसलाइट का चित्र सबके लिए बनवायें जो बच्चे देखकर खुश होते रहें। शिवबाबा ब्रह्मा द्वारा हमको यह वर्सा दे रहे हैं। मनुष्य तो कुछ नहीं जानते हैं। बिल्कुल ही तुच्छ बुद्धि हैं। अभी तुम तुच्छ बुद्धि से स्वच्छ बुद्धि बन रहे हो। सब कुछ जान गये हो, और कुछ पढ़ने की दरकार नहीं। इस पढ़ाई से तुमको विश्व की बादशाही मिलती है, इसलिए बाप को नॉलेजफुल कहते हैं। मनुष्य फिर समझते हैं हर एक की दिल को जानते हैं, परन्तु बाप तो नॉलेज देते हैं। टीचर समझ सकते हैं फलाना पढ़ते हैं, बाकी सारा दिन यह थोड़ेही बैठ देखेंगे कि इनकी बुद्धि में क्या चलता है। यह तो वन्डरफुल नॉलेज है। बाप को ज्ञान का सागर, सुख-शान्ति का सागर कहा जाता है। तुम भी अभी मास्टर ज्ञान सागर बनते हो। फिर यह टाइटिल उड़ जायेगा। फिर सर्वगुण सम्पन्न, 16 कला सम्पूर्ण बनेंगे। यह है मनुष्य का ऊंच मर्तबा। इस समय यह है ईश्वरीय मर्तबा। कितनी समझने और समझाने की बातें हैं। लक्ष्मी-नारायण का चित्र देख बड़ी खुशी होनी चाहिए। हम अभी विश्व के मालिक बनेंगे। नॉलेज से ही सब गुण आते हैं। अपना एम ऑब्जेक्ट देखने से ही रिफ्रेशमेंट आ जाती है, इसलिए बाबा कहते हैं यह लक्ष्मी-नारायण का चित्र तो हरेक के पास होना चाहिए। यह चित्र दिल में प्यार बढ़ाता है। दिल में आता है-बस, यह मृत्युलोक में लास्ट जन्म है। फिर हम अमरलोक में यह जाकर बनूँगा, ततत्वम्। ऐसे नहीं कि आत्मा सो परमात्मा। नहीं, यह ज्ञान सारा बुद्धि में बैठा हुआ हो। जब भी किसको समझाते हो, बोलो हम कभी भी कोई से भीख नहीं मांगते। प्रजापिता ब्रह्मा के बच्चे तो बहुत हैं। हम अपने ही तन-मन-धन से सेवा करते हैं। ब्राह्मण अपनी कमाई से ही यज्ञ को चला रहे हैं। शूद्रों के पैसे नहीं लगा सकते। ढेर बच्चे हैं वह जानते हैं जितना हम तन-मन-धन से सर्विस करेंगे, सेरन्डर होंगे उतना पद पायेंगे। जानते हैं बाबा ने बीज बोया है तो यह लक्ष्मी-नारायण बनते हैं। पैसे यहाँ काम में तो आने नहीं हैं, क्यों न इस कार्य में लगा दें। फिर क्या सरेन्डर होने वाले भूख मरते हैं क्या? बहुत सम्भाल होती रहती है। बाबा की कितनी सम्भाल होती रहती है। यह तो शिवबाबा का रथ है ना। सारे वर्ल्ड को हेविन बनाने वाला है। यह हसीन मुसाफिर है।

परमपिता परमात्मा तो आकर सबको हसीन बनाते हैं, तुम सांवरे से गोरा हसीन बनते हो ना। कितना सलोना साजन है, आकर सबको गोरा बना देते हैं। उन पर तो कुर्बान जाना चाहिए। याद करते रहना चाहिए। जैसे आत्मा को देख नहीं सकते, जान सकते हैं, वैसे परमात्मा को भी जान सकते हैं। देखने में तो आत्मा-परमात्मा दोनों एक जैसे बिन्दु हैं। बाकी तो सारी नॉलेज है। यह बड़ी समझ की बातें हैं। बच्चों की बुद्धि में यह नोट रहनी चाहिए। बुद्धि में नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार धारणा होती है। डॉक्टर लोगों को भी दवाइयाँ याद रहती हैं ना। ऐसे नहीं कि उस समय बैठ किताब देखेंगे। डॉक्टरी की भी प्वाइंट्स होती हैं, बैरिस्टरी की भी प्वाइंट्स होती हैं। तुम्हारे पास भी प्वाइंट्स हैं, टॉपिक्स हैं, जिस पर समझाते हैं। कोई प्वाइंट किसको फायदा कर लेती है, कोई को किस प्वाइंट से तीर लग जाता है। प्वाइंट तो बहुत ढेर की ढेर हैं। जो अच्छी रीति धारण करेंगे वह अच्छी रीति सर्विस कर सकेंगे। आधा-कल्प से महारोगी पेशेन्ट हैं। आत्मा पतित बनी है, उनके लिए एक अविनाशी सर्जन दवाई देते हैं। वह सदैव सर्जन ही रहते हैं, कभी बीमार होते नहीं। और तो सब बीमार पड़ जाते हैं। अविनाशी सर्जन एक ही बार आकर मन्मनाभव का इन्जेक्शन लगाते हैं। कितना सहज है, चित्र को पॉकेट में रख दो सदैव। बाबा नारायण का पुजारी था तो लक्ष्मी का चित्र निकाल अकेला नारायण का चित्र रख दिया। अभी पता पड़ता है जिसकी हम पूजा करते थे, वह अब बन रहे हैं। लक्ष्मी को विदाई दे दी तो यह पक्का है, हम लक्ष्मी नहीं बनूँगा। लक्ष्मी बैठ पैर दबाये, यह अच्छा नहीं लगता था। उनको देखकर पुरूष लोग स्त्री से पैर दबवाते हैं। वहाँ थोड़ेही लक्ष्मी ऐसे पैर दबायेगी। यह रस्म-रिवाज वहाँ होती नहीं। यह रसम रावण राज्य की है। इस चित्र में सारी नॉलेज है। ऊपर में त्रिमूर्ति भी है, इस नॉलेज को सारा दिन सिमरण कर बड़ा वन्डर लगता है। भारत अब स्वर्ग बन रहा है। कितनी अच्छी समझानी है, पता नहीं, मनुष्यों की बुद्धि में क्यों नहीं बैठता है? आग बड़े जोर से लगेगी, भंभोर को आग लगनी है। रावण राज्य तो जरूर खलास होना चहिए। यज्ञ में भी पवित्र ब्राह्मण चाहिए। यह बड़ा भारी यज्ञ है – सारे विश्व में प्योरिटी लाने का। वो ब्राह्मण भी भल ब्रह्मा की औलाद कहलाते हैं, परन्तु वह तो कुख वंशावली हैं। ब्रह्मा की सन्तान तो पवित्र मुख वंशावली थे ना। तो उन्हों को यह समझाना चाहिए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) स्वच्छ बुद्धि बन वन्डरफुल ज्ञान को धारण कर बाप समान मास्टर ज्ञान सागर बनना है। नॉलेज से सर्व गुण स्वयं में धारण करने हैं।

2) जैसे बाबा ने तन-मन-धन सर्विस में लगाया, सरेन्डर हुए ऐसे बाप समान अपना सब कुछ ईश्वरीय सेवा में सफल करना है। सदा रिफ्रेश रहने के लिए एम ऑब्जेक्ट का चित्र साथ में रखना है।

वरदान:- पास विद आनर बनने के लिए पुरूषार्थ की गति तीव्र और ब्रेक पावरफुल रखने वाले यथार्थ योगी भव
वर्तमान समय के प्रमाण पुरूषार्थ की गति तीव्र और ब्रेक पावरफुल चाहिए तब अन्त में पास विद आनर बन सकेंगे क्योंकि उस समय की परिस्थितियां बुद्धि में अनेक संकल्प लाने वाली होंगी, उस समय सब संकल्पों से परे एक संकल्प में स्थित होने का अभ्यास चाहिए। जिस समय विस्तार में बिखरी हुई बुद्धि हो उस समय स्टॉप करने की प्रैक्टिस चाहिए। स्टॉप करना और होना। जितना समय चाहें उतना समय बुद्धि को एक संकल्प में स्थित कर लें-यही है यथार्थ योग।
स्लोगन:- आप ओबीडियेन्ट सर्वेन्ट हो इसलिए अलमस्त नहीं हो सकते। सर्वेन्ट माना सदा सेवा पर उपस्थित।

अव्यक्त स्थिति का अनुभव करने के लिए विशेष होमवर्क

अव्यक्त स्थिति में रहने के लिए बाप की श्रीमत है बच्चे, “सोचो कम, कर्तव्य अधिक करो।” सर्व उलझनों को समाप्त कर उज्जवल बनो। पुरानी बातों अथवा पुराने संस्कारों रूपी अस्थियों को सम्पूर्ण स्थिति के सागर में समा दो। पुरानी बातें ऐसे भूल जाएं जैसे पुराने जन्म की बातें भूल जाती हैं।

Font Resize