21 december ki murli

TODAY MURLI 21 DECEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 21 December 2020

21/12/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have now come into the lap of the Father,the Holiest of the Holy. You have to become holy (pure) even in your thoughts.
Question: What is the intoxication and sign of the holiest of the holy children?
Answer: They have the intoxication that they have taken the lap of the Father, theHoliest of the Holy. They are becoming the holiest deities. No bad thoughts can enter their minds. They are fragrant flowers and they never perform any wrong actions. They remain introverted and check themselves: Is everyone receiving fragrance from me? Are my eyes drawn towards anything?
Song: To live in your lane and to die in your lane.

Om shanti. You children heard the song. You have to churn it inside you and extract its meaning. Who said: To die in your lane? It was the soul that said this because it is the soul that is impure. You are said to be pure at the end, or you can say you are pure when you receive a pure body. At present, you are effort-makers. You know that you come to the Father to die. To leave one father and adopt another means to die to one and live with the other. When the child of a physical father leaves his body, he goes and takes birth to another father. It is the same here. You die and then take the lap of the Holiest of theHoly. Who is the Holiest of the Holy? (the Father). And who is holy? (sannyasis). Yes, sannyasis are said to be holy. There is a difference between you and the sannyasis. They become holy but they still take birth through impure ones. You are now becoming the holiest of the holy. It is the Father, the Holiest of the Holy,who is making you this. Those people leave their homes to become holy. It is souls that become pure. In heaven you are deities and so you are the holiest of the holy. Your renunciation is unlimited whereas theirs is limited. They become holy and you become the holiest of the holy. The intellect says that you are now going to the new world. The sannyasis come when it is the rajo period and there is a difference between being rajo and being satopradhan. You are becoming the holiest through the Holiest of the Holy. He is the Ocean of Knowledge and also the Ocean of Love. In English, it is said, “Ocean of Knowledge, Ocean of Love.” He makes you so elevated! You call out to the Highest on High, the Holiest of the Holy: Come and purify the impure! Come into the impure world and make us the holiest of the holy. Therefore, you children should have the intoxication of who it is that is teaching us! What will we become? You also have to imbibe divine virtues. Children write: Baba, Maya brings us many storms. She doesn’t allow us to become pure in our thoughts. Since we have to become the holiest of the holy, why do we have such bad thoughts? The Father says: At present, you have become the completely “unholiestof the holy. Now, at the end of many births, the Father is teaching you with full force. So, children, your intellects should have the intoxication of what you are becoming. Who made Lakshmi and Narayan become that? Bharat used to be heaven. At this time Bharat is tamopradhan and corrupt. We are now making it the holiest of the holy. There definitely has to be the One who makes it like that. You have to have intoxication inside yourselves that you have to become deities. For that, you also need to have such virtues. From being at the very bottom, you have now climbed up. “Rise and Fall” is written on the picture of the ladder. How can those who have fallen down call themselves the holiest of the holy? Only the Father, the Holiest of the Holy, comes and makes you children become like that. You have come here to become the masters of the world, the holiest of the holy. Therefore, you should have so much intoxication. Baba has come to make us so elevated. Become pure in your thoughts, words and deeds. Become a fragrant flower. The golden age is called the garden of flowers. There shouldn’t be any bad odour. Body consciousness is said to be a bad odour. There shouldn’t be any bad vision towards anyone. You shouldn’t perform any wrong actions which would accumulate in your account and make your conscience bite you. You are accumulating wealth for 21 births. You children know that you are becoming very wealthy. Each of you should look at yourself, the soul, and check whether you are full of all the divine virtues. Am I making effort as Baba says? Look what your aim and objective is! There is so much difference between sannyasis and yourselves. You children should have the intoxication of whose lap you have come into. What is He making us into? Become introverted and check to what extent you have become worthy. How beautiful we have to become so that everyone receives the fragrance of knowledge! You give this fragrance to many. You make others the same as yourselves. First of all, you should have the intoxication of who it is that is teaching you! All of those people are gurus of the path of devotion. There cannot be any guru on the path of knowledge except the Supreme Father, the Supreme Soul. All the rest belong to the path of devotion. Devotion takes place in the iron age. That is when Ravan enters. No one in the world knows this. You now know that you were 16 celestial degrees full when you were in the golden age. After even one day has passed, you would no longer call it the day of the full moon. It is the same here. The cycle continues to turn little by little like a louse. You now have to become 16 celestial degrees full, and that is also for half the cycle. Then the degrees will continue to decrease. You have this knowledge in your intellects and so you should have so much intoxication. It doesn’t enter the intellects of many who it is that is teaching them. The Ocean of Knowledge! He says to you children: Namaste, children. You too are the masters of Brahmand. Everyone resides there; then you also become the masters of the world. In order to increase your enthusiasm, the Father says: You become even more elevated than I! I don’t become the Master of the world. I make you into those with even greater praise than Mine. When children become greater than their father, the father understands that they have claimed a high status by studying. The Father also says: I am teaching you. Now make effort to claim the status you want. The Father is teaching us. So, first, this intoxication should rise. The Father can talk to you at any time when He comes into this one. You children belong to Him, do you not? This chariot belongs to Him, does it not? Therefore, theFather, the Holiest of the Holy,has now come to purify you. You now have to purify others. I am retiring. When you become the holiest of the holy, no impure beings can come here. This is the church of the holiest of the holy. All the people who go to those churches are impure. All are impure and unholy. This is a very big holy church. No impure beings can set foot here. However, you cannot do this now. When you children also become like this, all the laws will be enforced. No one else will be able to come inside. Some ask if they can come and sit in this gathering. Baba says: You have to work with the officers etc., and so you have to allow them to sit here. When your name has been glorified, you won’t need to be concerned about anyone else. Now, you still need to keep this concern; even the holiest of the holyhave to give way. You cannot say “No” to them at the present time. When your influence spreads, people’s enmity will also be reduced. You will then explain that it is theFather, the Holiest of the Holy, who is teaching you Brahmins Raja Yoga. Sannyasis cannot be called the holiest of the holy. They only come in the rajo period. Can they become the masters of the world? You are now effort-makers. Sometimes your behaviour is very good and sometimes it is such that you defame the name. Many who come to the centres don’t have any recognition at all. You even forget what you are becoming. The Father can understand from your behaviour what you will become. If there is the highest status in your fortune, you behave with great royalty. Simply remember who is teaching you and you will experience such happiness that it explodes within you. We are Godfatherly students, and so there should be so much regard for Him. You are still studying at the moment. The Father understands that it will still take time. Everything is numberwise. A building too is at first satopradhan and then it goes through the stages of sato, rajo and tamo. You are now going to become satopradhan and 16 celestial degrees full. The building is being constructed. All of you together are constructing the building of heaven. You should have great happiness that Bharat, which has become the “unholiest of the unholyis now being made the holiest of the holy. Therefore, you need to caution yourself a great deal. Your vision should not be such that your status is destroyed. Don’t think: What would Baba think if I write this to Baba? No, everyone is making effort at this time. Even he cannot be called the holiest of the holy at this time. Once he has become that, even this body will not remain. You are also becoming the holiest of the holy. However, there are different levels of status. For that, you need to make effort and also inspire others to do the same. Baba continues to give you many points. When someone comes, show him the contrast between the holiest of the holy and the holy. Lakshmi and Narayan take birth in the golden age; others come later and so there is so much difference. You children understand what Shiv Baba is making you. He says: Constantly remember Me alone. Consider yourselves to be bodiless souls. The Highest on High, Shiv Baba, teaches you and makes you the highest on high. We are studying through Brahma. Brahma becomes Vishnu. Only you know this. Human beings don’t understand anything. It is now the kingdom of Ravan over the whole world. You are establishing the kingdom of Rama which only you know. According to the drama, we are becoming worthy in order to establish heaven. Baba is now making us worthy. No one, apart from the Father, can take us to the land of peace or the land of happiness. They continue to tell tall stories when they say that “So-and-so has gone to heaven” or “to the land of liberation”. The Father says: How can vicious and impure souls go to the land of peace? You can tell them this so they understand how much spiritual intoxication you have. Churn the ocean of knowledge as to how you can explain to them. While walking and moving around you should have this feeling inside you: In order to become worthy, we have to have patience. It is the people of Bharat who become completely worthy and completely unworthy, no one else. The Father is now making you worthy. This knowledge is very enjoyable. Internally, there is great happiness that we will make this Bharat into the holiest of the holy. There has to be very royal behaviour. One can understand everything from your food and drink and your behaviour. Shiv Baba is making you so elevated! You have become His children and so you have to glorify His name. Your behaviour should be such that they understand that you are the children of the Holiest of the Holy. Gradually, you will continue to become this. Your praise will continue to emerge. All the rules and regulations will then be put in place so that no impure beings can come inside. Baba understands that you still need time. You children have to make a lot of effort so that your kingdom becomes ready. Then, when these rules are enforced, it won’t matter. At that time, there will be a queue from here down to Abu Road. Just see as you make further progress. Baba continues to increase your fortune. It is rightfully said that you are multimillion times (padmapadam) fortunate. They show a lotus (padam) at the feet. All of that is the praise of you children. Nevertheless, the Father says: Manmanabhav! Remember the Father! Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Don’t do anything that would make your conscience bite. Become a fully fragrant flower. Remove the bad odour of body consciousness.
  2. Your behaviour has to be very royal. Make full effort to become the holiest of the holy. Your vision should not be such that your status is destroyed.
Blessing: May you be multimillion times fortunate and accumulate an income of multimillions by using every treasure.
According to drama, it is at the time of the confluence age that you receive the blessing of accumulating an income of multimillions at every second. Use such a blessing for yourself and also donate it to others. In the same way, use the treasure of thoughts, the treasure of knowledge and the treasure of physical wealth and accumulate an income of multimillions because, by surrendering your physical wealth to God at this time, the value of one new paisa (penny) is equal to a jewel. So, use all the treasures for yourself and for service and you will become multimillion times fortunate.
Slogan: Where there is love in your heart, you can easily receive everyone’s co-operation.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 21 DECEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 21 December 2020

Murli Pdf for Print : – 

21-12-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम अभी होलीएस्ट ऑफ दी होली बाप की गोद में आये हो, तुम्हें मन्सा में भी होली (पवित्र) बनना है”
प्रश्नः- होलीएस्ट ऑफ दी होली बच्चों का नशा और निशानियाँ क्या होंगी?
उत्तर:- उन्हें नशा होगा कि हमने होलीएस्ट ऑफ दी होली बाप की गोद ली है। हम होलीएस्ट देवी-देवता बनते हैं, उनके अन्दर मन्सा में भी खराब ख्यालात आ नहीं सकते। वह खुशबूदार फूल होते हैं, उनसे कोई भी उल्टा कर्म हो नहीं सकता। वह अन्तर्मुखी बन अपनी जांच करते हैं कि मेरे से सबको खुशबू आती है? मेरी आंख किसी में डूबती तो नहीं?
गीत:- मरना तेरी गली में……..

ओम् शान्ति। बच्चों ने गीत सुना फिर उसका अर्थ भी अन्दर में विचार सागर मंथन कर निकालना चाहिए। यह किसने कहा मरना तेरी गली में? आत्मा ने कहा क्योंकि आत्मा है पतित। पावन तो अन्त में कहेंगे वा पावन तब कहें जब शरीर भी पावन मिले। अभी तो पुरुषार्थी हैं। यह भी जानते हो – बाप के पास आकर मरना होता है। एक बाप को छोड़ दूसरा करना माना एक से मरकर दूसरे के पास जीना। लौकिक बाप का भी बच्चा शरीर छोड़ेगा तो दूसरे बाप पास जाकर जन्म लेगा ना। यह भी ऐसे है। मरकर फिर होलीएस्ट ऑफ होली की गोद में तुम जाते हो। होलीएस्ट ऑफ होली कौन है? (बाप) और होली कौन हैं? (संन्यासी) हाँ, इन संन्यासियों आदि को कहेंगे होली। तुम्हारे में और संन्यासियों में फर्क है। वह होली बनते हैं लेकिन जन्म तो फिर भी पतित से लेते हैं ना। तुम बनते हो होलीएस्ट ऑफ दी होली। तुमको बनाने वाला है होलीएस्ट ऑफ होली बाप। वो लोग घरबार छोड़ होली बनते हैं। आत्मा पवित्र बनती है ना। तुम स्वर्ग में देवी-देवता हो तो तुम होलीएस्ट ऑफ होली होते हो। यह तुम्हारा संन्यास है बेहद का। वह है हद का। वो होली बनते हैं, तुम बनते हो होलीएस्ट ऑफ होली। बुद्धि भी कहती है – हम तो नई दुनिया में जाते हैं। वह संन्यासी आते ही हैं रजो में। फर्क हुआ ना। कहाँ रजो, कहाँ सतोप्रधान। तुम होलीएस्ट ऑफ होली द्वारा होलीएस्ट बनते हो। वह ज्ञान सागर भी है, प्रेम का सागर भी है। इंगलिश में ओशन ऑफ नॉलेज, ओशन ऑफ लव कहते हैं। तुमको कितना ऊंच बनाते हैं। ऐसे ऊंच ते ऊंच होलीएस्ट ऑफ होली को बुलाते हैं कि आकर पतितों को पावन बनाओ। पतित दुनिया में आकर हमको होलीएस्ट ऑफ होली बनाओ। तो बच्चों को इतना नशा रहना चाहिए कि हमको कौन पढ़ाते हैं! हम क्या बनेंगे? दैवीगुण भी धारण करने हैं। बच्चे लिखते हैं – बाबा हमको माया बहुत तूफान लाती है। हमको मन्सा से शुद्ध बनने नहीं देती है क्यों ऐसे खराब ख्यालात आते हैं जबकि हमको होलीएस्ट ऑफ होली बनना है? बाप कहते हैं – अभी तुम बिल्कुल अन-होलीएस्ट ऑफ होली बन पड़े हो। बहुत जन्मों के अन्त में अब बाप फिर तुमको जोर से पढ़ाते हैं। तो बच्चों की बुद्धि में यह नशा रहना चाहिए – हम क्या बन रहे हैं। इन लक्ष्मी-नारायण को ऐसा किसने बनाया? भारत स्वर्ग था ना। इस समय भारत तमोप्रधान भ्रष्टाचारी है। फिर इनको हम होलीएस्ट ऑफ होली बनाते हैं। बनाने वाला तो जरूर चाहिए ना। अपने में भी वह नशा आना चाहिए कि हमको देवता बनना है। उसके लिए गुण भी ऐसे होने चाहिए। एकदम नीचे से ऊपर चढ़े हो। सीढ़ी में भी उत्थान और पतन लिखा है ना। जो नीचे गिरे हुए हैं वह कैसे अपने को होलीएस्ट ऑफ होली कहलायेंगे। होलीएस्ट ऑफ होली बाप ही आकर बच्चों को बनाते हैं। तुम यहाँ आये ही हो विश्व का मालिक होलीएस्ट ऑफ होली बनने के लिए, तो कितना नशा रहना चाहिए। बाबा हमको इतना ऊंच बनाने आये हैं। मन्सा-वाचा-कर्मणा पवित्र बनना है। खुशबूदार फूल बनना है। सतयुग को कहा ही जाता है – फूलों का बगीचा। बदबू कोई भी न हो। बदबू देह-अभिमान को कहा जाता है। कुदृष्टि कोई में भी न जाये। ऐसा उल्टा काम न हो जो दिल को खाये और खाता बन जाए। तुम 21 जन्मों के लिए धन इकट्ठा करते हो। तुम बच्चे जानते हो हम बहुत सम्पत्तिवान बन रहे हैं। अपनी आत्मा को देखना है हम दैवीगुणों से भरपूर हैं? जैसे बाबा कहते हैं वैसे हम पुरूषार्थ करते हैं। तुम्हारी एम ऑब्जेक्ट तो देखो कैसी है। कहाँ संन्यासी कहाँ तुम!

तुम बच्चों को नशा होना चाहिए कि हम किसकी गोद में आये हैं! हमको क्या बनाते हैं? अन्तर्मुख हो देखना चाहिए – हम कहाँ तक लायक बने हैं? हमको कितना गुल-गुल बनना चाहिए, जो सबको ज्ञान की खुशबू आये? तुम अनेकों को खुशबू देते हो ना। आपसमान बनाते हो। पहले तो नशा होना चाहिए – हमको पढ़ाने वाला कौन है! वो तो सभी हैं भक्ति मार्ग के गुरू। ज्ञान मार्ग का गुरू कोई हो न सके – सिवाए एक परमपिता परमात्मा के। बाकी हैं भक्ति मार्ग के। भक्ति होती ही है कलियुग में। रावण की प्रवेशता होती है। यह भी दुनिया में कोई को पता नहीं। अभी तुम जानते हो, सतयुग में हम 16 कला सम्पूर्ण थे, फिर एक दिन भी बीता तो उनको पूर्णमासी थोड़ेही कहेंगे। यह भी ऐसे है। थोड़ा-थोड़ा जूँ के मुआफिक चक्र फिरता रहता है। अब तुमको पूरा 16 कला सम्पूर्ण बनना है, सो भी आधाकल्प के लिए। फिर कलायें कमती होती हैं, यह तुमको बुद्धि में ज्ञान है तो तुम बच्चों को कितना नशा रहना चाहिए। बहुतों को यह बुद्धि में आता नहीं है कि हमको पढ़ाने वाला कौन है? ओशन ऑफ नॉलेज। बच्चों को तो कहते हैं नमस्ते बच्चों। तुम ब्रह्माण्ड के भी मालिक हो, वहाँ सब रहते हो फिर विश्व के भी तुम मालिक बनते हो। तुम्हारा हौंसला बढ़ाने के लिए बाप कहते हैं तुम हमसे ऊंच बनते हो। मैं विश्व का मालिक नहीं बनता हूँ, अपने से भी तुमको ऊंच महिमा वाला बनाता हूँ। बाप के बच्चे ऊंच चढ़ जाते हैं तो बाप समझेंगे ना इन्होंने पढ़कर इतना ऊंच पद पाया है। बाप भी कहते हैं हम तुमको पढ़ाते हैं। अब अपना पद जितना बनाने चाहो, पुरुषार्थ करो। बाप हमको पढ़ाते हैं – पहले तो नशा चढ़ना चाहिए। बाप तो कभी भी आकर बात करते हैं। वह तो जैसे इनमें है ही। तुम बच्चे उनके हो ना। यह रथ भी उनका है ना। तो ऐसा होलीएस्ट ऑफ होली बाप आया हुआ है, तुमको पावन बनाता है। अब तुम फिर औरों को पावन बनाओ। हम रिटायर होता हूँ। जब तुम होलीएस्ट ऑफ होली बनते हो तो यहाँ कोई पतित आ न सके। यह होलीएस्ट ऑफ होली का चर्च है। उस चर्च में तो विकारी सब जाते हैं, सब पतित अनहोली हैं। यह तो बहुत बड़ी होली चर्च है। यहाँ कोई पतित पांव भी धर न सके। परन्तु अभी नहीं कर सकते। जब बच्चे भी ऐसे बन जायें तब ऐसे कायदे निकाले जायें। यहाँ कोई अन्दर आ न सके। पूछते हैं ना हम आकर सभा में बैठें? बाबा कहते हैं ऑफीसर्स आदि से काम रहता है तो उनको बिठाना पड़े। जब तुम्हारा नाम बाला हो जायेगा फिर तुमको किसी की परवाह नहीं। अभी रखनी पड़ती है, होलीएस्ट ऑफ होली भी गम खाते रहते हैं। अभी ना नहीं कर सकते। प्रभाव निकलने से फिर लोगों की दुश्मनी भी कम हो जायेगी। तुम भी समझायेंगे हम ब्राह्मणों को राजयोग सिखलाने वाला होलीएस्ट ऑफ होली बाप है। संन्यासियों को होलीएस्ट ऑफ होली थोड़ेही कहेंगे। वह आते ही हैं रजोगुण में। वह विश्व के मालिक बन सकते हैं क्या? अभी तुम पुरुषार्थी हो। कभी तो बहुत अच्छी चलन होती है, कभी तो फिर ऐसी चलन होती जो नाम बदनाम कर देते हैं। बहुत सेन्टर्स पर ऐसे आते हैं जो ज़रा भी पहचानते कुछ नहीं हैं। तुम अपने को भी भूल जाते हो कि हम क्या बनते हैं। बाप भी चलन से समझ जाते हैं – यह क्या बनेंगे? भाग्य में ऊंच पद होगा तो चलन बड़ी रॉयल्टी से चलेंगे। सिर्फ याद रहे कि हमको पढ़ाते कौन हैं तो भी कापारी खुशी रहे। हम गॉड फादरली स्टूडेण्ट हैं तो कितना रिगार्ड रहे। अभी अजुन सीख रहे हैं। बाप तो समझते हैं अभी टाइम लगेगा। नम्बरवार तो हर बात में होते ही हैं। मकान भी पहले सतोप्रधान होता है फिर सतो-रजो-तमो होता है। अभी तुम सतोप्रधान, 16 कला सम्पूर्ण बनने वाले हो। इमारत बनती जाती है। तुम सब मिलकर स्वर्ग की इमारत बना रहे हो। यह भी तुमको बहुत खुशी होनी चाहिए। भारत जो अनहोलीएस्ट ऑफ अनहोली बन पड़ा है, उनको हम होलीएस्ट ऑफ होली बनाते हैं, तो अपने ऊपर कितनी खबरदारी रखनी चाहिए। हमारी दृष्टि ऐसी न हो जो हमारा पद ही भ्रष्ट हो जाए। ऐसे नहीं बाबा को लिखेंगे तो बाबा क्या कहेंगे। नहीं, अभी तो सब पुरुषार्थ कर रहे हैं। उनको भी अभी होलीएस्ट ऑफ होली थोड़ेही कहेंगे। बन जायेंगे फिर तो यह शरीर भी नहीं रहेगा। तुम भी होलीएस्ट ऑफ होली बनते हो। बाकी उसमें हैं मर्तबे। उसके लिए पुरुषार्थ करना है और कराना है। बाबा प्वाइंट्स तो बहुत देते रहते हैं। कोई आये तो भेंट करके दिखाओ। कहाँ यह होलीएस्ट ऑफ होली, कहाँ वह होली। इन लक्ष्मी-नारायण का तो जन्म ही सतयुग में होता है। वह आते ही बाद में हैं, कितना फर्क है। बच्चे समझते हैं – शिवबाबा हमको यह बना रहे हैं। कहते हैं मामेकम् याद करो। अपने को अशरीरी आत्मा समझो। ऊंच ते ऊंच शिवबाबा पढ़ाकर ऊंच ते ऊंच बनाते हैं, ब्रह्मा द्वारा हम यह पढ़ते हैं। ब्रह्मा सो विष्णु बनते हैं। यह भी तुम जानते हो। मनुष्य तो कुछ भी नहीं समझते। अभी सारी सृष्टि पर रावण राज्य है। तुम रामराज्य स्थापन कर रहे हो, जिसको तुम जानते हो। ड्रामा अनुसार हम स्वर्ग स्थापन करने लायक बन रहे हैं। अब बाबा लायक बनाते हैं। सिवाए बाप के शान्तिधाम, सुखधाम कोई ले नहीं जा सकते। गपोड़ा मारते रहते हैं फलाना स्वर्ग गया, मुक्तिधाम गया। बाप कहते हैं यह विकारी, पतित आत्मायें शान्तिधाम कैसे जायेंगी। तुम कह सकते हो तो समझें इन्हों को कितना फ़खुर है। ऐसे विचार सागर मंथन करो, कैसे समझायें। चलते-फिरते अन्दर में आना चाहिए। धीरज भी धरना है, हम भी लायक बन जायें। भारतवासी ही पूरा लायक और पूरा नालायक बनते हैं। और कोई नहीं। अभी बाप तुमको लायक बना रहे हैं। नॉलेज बड़ी मजे की है। अन्दर में बड़ी खुशी रहती है – हम इस भारत को होलीएस्ट ऑफ होली बनायेंगे। चलन बड़ी रॉयल चाहिए। खान-पान, चलन से मालूम पड़ जाता है। शिवबाबा तुमको इतना ऊंच बनाते हैं। उनके बच्चे बने हो तो नाम बाला करना है। चलन ऐसी हो जो समझें यह तो होलीएस्ट ऑफ होली के बच्चे हैं। आहिस्ते-आहिस्ते तुम बनते जायेंगे। महिमा निकलती जायेगी। फिर कायदे कानून सब निकालेंगे, जो कोई पतित अन्दर आ न सके। बाबा समझ सकते हैं, अभी टाइम चाहिए। बच्चों को बहुत पुरुषार्थ करना है। अपनी राजधानी भी तैयार हो जाए। फिर करने में हर्जा नहीं है। फिर तो यहाँ से नीचे आबूरोड तक क्यू लग जायेगी। अभी तुम आगे चलो। बाबा तुम्हारे भाग्य को बढ़ाते रहते हैं। पद्म भाग्यशाली भी कायदेसिर कहते हैं ना। पैर में पद्म दिखाते हैं ना। यह सब तुम बच्चों की महिमा है। फिर भी बाप कहते हैं मनमनाभव, बाप को याद करो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ऐसा कोई काम नहीं करना है जो दिल को खाता रहे। पूरा खुशबूदार फूल बनना है। देह-अभिमान की बदबू निकाल देनी है।

2) चलन बड़ी रॉयल रखनी है। होलीएस्ट ऑफ होली बनने का पूरा पुरुषार्थ करना है। दृष्टि ऐसी न हो जो पद भ्रष्ट हो जाये।

वरदान:- हर खजाने को कार्य में लगाकर पदमों की कमाई जमा करने वाले पदमापदम भाग्यशाली भव
हर सेकण्ड पदमों की कमाई जमा करने का वरदान ड्रामा में संगम के समय को मिला हुआ है। ऐसे वरदान को स्वयं प्रति जमा करो और औरों के प्रति दान करो, ऐसे ही संकल्प के खजान को, ज्ञान के खजाने को, स्थूल धन रूपी खजाने को कार्य में लगाकर पदमों की कमाई जमा करो क्योंकि इस समय स्थूल धन भी ईश्वर अर्थ समर्पण करने से एक नया पैसा एक रत्न समान वैल्यु का हो जाता है – तो इन सर्व खजानों को स्वयं के प्रति वा सेवा के प्रति कार्य में लगाओ तो पदमापदम भाग्यशाली बन जायेंगे।
स्लोगन:- जहाँ दिल का स्नेह है वहाँ सबका सहयोग सहज प्राप्त होता है।

TODAY MURLI 21 DECEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 21 December 2019

21/12/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you souls have to charge your batteries with the powers of knowledge and yoga, and thereby make yourselves satopradhan, not by bathing in water.
Question: Who makes all human souls wander around aimlessly at this time? Why does he make you wander around?
Answer: It is Ravan that makes everyone wander around aimlessly because he himself is wandering around aimlessly; he doesn’t have a home of his own. No one would call Ravan, “Baba”. The Father comes from His home, the supreme abode (paramdham), in order to show you children your destination. Now that you know your home, you no longer wander around. You say that you separated from the Father first and that you will therefore return home first.

Om shanti. Sweetest children, while sitting here, you understand that, no matter what happens, Shiv Baba, who has entered this one, will definitely take us back home with Him. That is the home of souls. You children should definitely be experiencing happiness because the unlimited Father has come to make us beautiful. It’s not that He makes us wear clothes etc. This is called the power of yoga, the power of remembrance. Whatever status a teacher has claimed, he enables his students to claim a status accordingly. Students can understand from their studies what they will become. You too understand that your Baba is also your Teacher as well as your Satguru. This is a new aspect. We also remember our Baba as our Teacher. This is what He is teaching us to become. Our unlimited Baba has come to take us back home with Him. Ravan has no home of his own. Rama has a home. Where does Shiv Baba reside? You would quickly say, “the supreme abode”. Ravan wouldn’t be called, “Baba”. Where does Ravan live? No one knows. You wouldn’t say that Ravan lives in the supreme abode; no. It is as though he has no destination. He simply continues to wander around and he makes you wander around too. Do you remember Ravan? No. He makes you wander around so much: you study scriptures, do devotion, do this and that. The Father says: That is called the path of devotion, Ravan’s kingdom. Gandhi too used to say that there should be the kingdom of Rama. Our Shiv Baba has entered this chariot. He is the senior Father. He talks to us souls and says: Child, child. The spiritual Father is now in your intellects and you spiritual children are in the intellect of the spiritual Father. Our connection is with the incorporeal world. Souls remained separated from the Supreme Soul for a long time. Souls reside there with the Father. Then they become separated from Him in order to play their parts. There has to be an account for that long period of time. The Father sits here and explains this. You are now studying this study. Those of you who study well are numberwise. They are also the ones who were separated from Me first of all. They are the ones who then remember Me a great deal and who will also come back to Me first of all. The Father sits here and explains to all you children the deep secrets of the whole world cycle. No one else knows this. This can be called deep knowledge and it can also be called the most profound knowledge. You know that the Father doesn’t sit up there whilst explaining to us. You know that He comes down here to explain all of this. I am the Seed of the kalpa tree. This human world tree is also called the kalpa tree. People of the world know nothing of this. They are sleeping in the slumber of ignorance (Kumbhakarna), and so the Father has come to awaken them. He has now awakened you children whereas everyone else is still sleeping. You too were sleeping like Kumbhakarna in that devilish sleep. The Father came and woke you up. He said: Children, wake up! You have become careless and are still sleeping. That is called the sleep of ignorance. Everyone has the other type of sleep. They also sleep in the golden age. At present, all of you are sleeping in the sleep of ignorance. The Father has come to awaken you all by giving you knowledge. You children have now been awakened. You know that Baba has come and that He will take us back home with Him. Neither this body nor this soul is of any use now. Both have become impure; alloy is mixed in them. You could call it nine carat gold or very little gold. Real gold is 24 carat. The Father now wants to make all of you 24 carat gold. He makes you souls truly goldenaged. Bharat was called The Golden Sparrow. You would now call it an iron sparrow, a sparrow of pebbles and stones. Still, it is alive. All of these things have to be understood. Just as souls can be understood, in the same way, the Supreme Soul can also be understood. They speak of a sparkling star. It is a very tiny star. Doctors etc. have made great efforts to try and see it. However, without having divine vision, no one can see it; it is so very subtle. Some say that a soul leaves through the eyes and some say that he leaves through the mouth. Where does a soul go when he leaves his body? He goes and enters another body. You souls are now about to go up to the land of peace. You are very sure that the Father will come and take you back home. On the one side, there is the iron age and on the other side, there is the golden age. We are now at the confluence age. It is a wonder! There are billions of humans here, whereas there are only 900,000 in the golden age. What happens to the rest of them? Destruction takes place! The Father only comes to establish the new world. Establishment takes place through Brahma. Then there is sustenance through the dual form. It isn’t that there is a human being with four arms. There would be no beauty in that. Baba explains to you children that the four-armed figure represents the combined forms of Shri Lakshmi and Shri Narayan. “Shri” means elevated. In the silver age, there are two degrees less. You children must remain aware of the knowledge you are now being given. The main thing is to remember the words: Remember the Father! No one else is able to understand this. Only the Father is the Purifier, the Almighty Authority. They sing: “Baba, You gave us everything, including the earth and the sky. There was nothing that You didn’t give us! You gave us the kingdom of the whole world.” You know that Lakshmi and Narayan were the masters of that world. The cycle of this drama continues to turn. You are becoming completely viceless, numberwise, according to the efforts you make. You know that you became vicious from viceless and viceless from vicious. You have played your parts of 84 births countless times; you cannot count them. You can count the population, but you can’t count how many times you changed from tamopradhan to satopradhan or how many times you changed from satopradhan to tamopradhan. Baba says: This cycle is 5000 years. This is the accurate length of time. If it were hundreds of thousands of years, you wouldn’t be able to remember anything. You are now imbibing virtues. Each of you has received the third eye of knowledge. You see the old world with your physical eyes. You have to use your third eye of knowledge that you have been given in order to see the new world. This world is of no use; it is an old world. Just look at the difference between the new world and the old world! You know that only you were the masters of the new world. Then, while taking 84 births, this is what you have become! You have to remember these things very well and then explain to others how you become this. Brahma becomes Vishnu, and then Vishnu becomes Brahma. You can see the difference between Brahma and Vishnu. Vishnu is sitting beautifully decorated, whereas Brahma is sitting in an ordinary form. You know that this Brahma will become that Vishnu. It is very easy to explain to anyone the relationship between Brahma, Vishnu and Shankar. You know that Vishnu is the dual form of Lakshmi and Narayan. The deity Vishnu then becomes the ordinary human Brahma. Vishnu belongs to the golden age whereas Brahma belongs here. The Father has explained that it only takes a second to become Vishnu from Brahma, but it takes 5000 years to change from Vishnu to Brahma. The same applies to you too. It isn’t only one who becomes Brahma. No one but the Father can explain these things to you. There isn’t anything about human beings or gurus here. This one’s Guru is Shiv Baba, and the Guru of you Brahmins is also Shiv Baba. He is called the Satguru. Therefore, you children must remember Shiv Baba alone. It’s easy to tell anyone to remember Shiv Baba. Shiv Baba creates the new world of heaven. God Shiva is the Highest on High. He is the Baba of us souls. Therefore, God says to you children: Remember Me, your Father! It’s so easy to remember. When a baby is born, the word “maa-maa” soon automatically emerges from his mouth. He wouldn’t go to anyone but his parents. Of course, it’s a different matter if the mother dies. First are the mother and father, then there are the friends and relatives etc. There are couples in that too: the paternal aunt and uncle. When a kumari becomes a woman, some would call her their maternal aunt and some their paternal aunt. The Father explains to you: All of you are now brothers; all your previous relationships are cancelled. When you consider yourselves to be brothers, you will remember the one Father. The Father too says: Children, remember Me, your Father! He is our most senior, unlimited Father of all. That senior Baba has come to give you the unlimited inheritance. Baba repeatedly says: Manmanabhav! Consider yourselves to be souls and remember the Father. Do not forget this! It is by becoming body conscious that you forget. First of all, you must consider yourselves to be souls. We souls are saligrams. We have to remember the one Father. The Father has told you: I am the Purifier. By remembering Me, your batteries which have become empty will become full and you will become satopradhan. You have been choking in the water of the Ganges for birth after birth, but you weren’t able to become pure. How could that water be the Purifier? It is only with knowledge that you receive salvation. At present, the world is false and full of sinful souls. Your give and take is also with sinful souls. You became sinful souls through your thoughts, words and deeds. You children have now received understanding. You say that you are making effort to become like Lakshmi and Narayan. You have now stopped performing devotion. Only with knowledge can there be salvation. Those deities were in salvation. The Father has explained that this one is in the last of his many births. The Father explains everything so easily! You children make plenty of effort. You make those efforts every cycle. You have to change the old world into the new world. They say that God is the Magician, the Jeweller and the Businessman. He is the Magician. He changes the old world of hell into heaven; therefore, a great deal of magic is performed. You are now becoming residents of heaven and you know that, at present, you reside in hellHeaven separate from hell. This cycle is 5000 years; it cannot be a question of hundreds of thousands of years. You must not forget these things. There are the versions of God. There definitely has to be someone who is beyond rebirth. Krishna has a body of his own whereas Shiva does not; therefore He definitely needs someone’s mouth with which He can give you this knowledge. He comes here to teach you. According to the drama, the Father has all the knowledge. He only comes once during the whole cycle in order to change the land of sorrow into the land of happiness. You definitely did receive your inheritance of peace and happiness from the Father and that is what you people want again. This is why you remember the Father. Just see how easily the Father gives you this knowledge. While you are sitting here, you have to remember the Father and also remember this somersault, because this too is “Manmanabhav”. The Father is the only one who gives this entire knowledge. You tell others that you are going to see the unlimited Father, that the Father is showing us the path to the land of peace and the land of happiness. While you sit here, you should also remember your home. Consider yourselves to be souls. You have to remember the Father, the home and the new world. This old world is definitely going to be destroyed. As you make progress, you will remember heaven a great deal. It will be as though you go to heaven again and again. At the beginning, the daughters used to sit together and go to Vaikunth (heaven) again and again. When people from important families saw this, they sent their children. It was called Om Nivas at that time. So many children came and then there was upheaval. He used to teach children and they would automatically go into trance. The part of visions and trance has now been stopped. They would pretend it was a graveyard. Everyone was made to lie down and told: Remember Shiv Baba! They would then go into trance. You children too are now magicians. Anyone you look at will also quickly go into trance. This magic is so wonderful! Only when the people who perform intense devotion are ready to sacrifice their lives do they have a vision. The Father, Himself, has come here. He educates you children and enables you to claim a high status. As you children progress, you will have many visions. If you were to ask the Father now, He could tell you who is going to become a rose, who is going to become jasmine and who will become a flower with no fragrance at all. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Cancel all your bodily relations and have the faith that all souls are brothers. Remember the Father and claim a right to your full inheritance.
  2. Your give and take must now no longer be with sinful souls. Wake everyone up from their sleep of ignorance and show them all the path to the abode of peace and the abode of happiness.
Blessing: May you be detached and loving and consider yourself to be a sample by keeping the symbol of a lotus flower in your intellect.
The symbol for those who live in a households is a lotus flower. So, put this into practice and become a lotus. If you don’t practise this, you won’t be able to become a lotus. So, keep the symbol of a lotus flower in your intellect and move along while considering yourself to be a sample. While doing service, be detached and loving. Do not just be loving, but first be detached and then be loving because love can sometimes change into attachment. So, while doing any service, be detached and loving.
Slogan: Maya cannot come under a canopy of love.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 21 DECEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 21 December 2019

21-12-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – आत्मा रूपी बैटरी को ज्ञान और योग से भरपूर कर सतोप्रधान बनाना है, पानी के स्नान से नहीं”
प्रश्नः- इस समय सभी मनुष्य आत्माओं को भटकाने वाला कौन है? वह भटकाता क्यों है?
उत्तर:- सभी को भटकाने वाला रावण है क्योंकि वह खुद भी भटकता है। उसे अपना कोई घर नहीं है। रावण को कोई बाबा नहीं कहेंगे। बाप तो परमधाम घर से आता है अपने बच्चों को ठिकाना देने। अभी तुम्हें घर का पता चल गया इसलिए तुम भटकते नहीं हो। तुम कहते हो हम बाप से पहले-पहले जुदा हुए अब फिर पहले-पहले घर जायेंगे।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे बच्चे यहाँ बैठकर समझते हैं, इनमें जो शिवबाबा आये हैं, कैसे भी करके हमको साथ घर जरूर ले जायेंगे। वह आत्माओं का घर है ना। तो बच्चों को जरूर खुशी होती होगी, बेहद का बाप आकरके हमको गुल-गुल बनाते हैं। कोई कपड़ा आदि नहीं पहनाते हैं। इसको कहा जाता है योगबल, याद का बल। जितना टीचर का मर्तबा है उतना और बच्चों को भी मर्तबा दिलाते हैं। पढ़ाई से स्टूडेन्ट जानते हैं कि हम यह बनेंगे। तुम भी समझते हो हमारा बाबा टीचर भी है, सतगुरू भी है। यह है नई बात। हमारा बाबा टीचर है, उनको हम याद करते हैं। हमको टीच कर यह बना रहे हैं। हमारा बेहद का बाबा आया हुआ है – हमको वापिस घर ले जाने। रावण का कोई घर नहीं होता, घर राम का होता है। शिवबाबा कहाँ रहते हैं? तुम झट कहेंगे परमधाम में। रावण को तो बाबा नहीं कहेंगे। रावण कहाँ रहते हैं? पता नहीं। ऐसे नहीं कहेंगे कि रावण परमधाम में रहते हैं। नहीं, उनका जैसेकि ठिकाना ही नहीं। भटकता रहता है, तुमको भी भटकाता है। तुम रावण को याद करते हो क्या? नहीं। कितना तुमको भटकाते हैं। शास्त्र पढ़ो, भक्ति करो, यह करो। बाप कहते हैं इसको कहा जाता है भक्ति मार्ग, रावण राज्य। गांधी भी कहते थे रामराज्य चाहिए। इस रथ में हमारा शिवबाबा आया हुआ है। बड़ा बाबा है ना। वह आत्माओं से बच्चे-बच्चे कह बात करते हैं। अभी तुम्हारी बुद्धि में है रूहानी बाप और रूहानी बाप की बुद्धि में हो तुम रूहानी बच्चे क्योंकि हमारा कनेक्शन है ही मूलवतन से। आत्मायें परमात्मा अलग रहे बहुकाल…..। वहाँ तो आत्मायें बाप के साथ इकट्ठी रहती हैं। फिर अलग होती हैं अपना-अपना पार्ट बजाने। बहुतकाल का हिसाब चाहिए ना। वह बाप बैठ बतलाते हैं। तुम अब पढ़ाई पढ़ रहे हो। तुम्हारे में भी नम्बरवार हैं जो अच्छी रीति पढ़ते हैं। वही पहले-पहले मेरे से जुदा हुए हैं। वही फिर मुझे बहुत याद करेंगे तो फिर पहले-पहले आ जायेंगे।

बाप बच्चों को बैठ सारे सृष्टि चक्र का गुह्य राज़ समझाते हैं, जो और कोई भी नहीं जानते। गुह्य भी कहा जाता, गुह्यतम् भी कहा जाता है। यह तुम जानते हो बाप कोई ऊपर से बैठ नहीं समझाते हैं, यहाँ आकर समझाते हैं-मैं इस कल्प वृक्ष का बीजरूप हूँ। इस मनुष्य सृष्टि रूपी झाड़ को कल्प वृक्ष कहा जाता है। दुनिया के मनुष्य तो बिल्कुल कुछ नहीं जानते। कुम्भकरण की नींद में सोये हुए हैं फिर बाप आकर जगाते हैं। अभी तुम बच्चों को जगाया है और सब सोये पड़े हैं। तुम भी कुम्भकरण की आसुरी नींद में सोये हुए थे। बाप ने आकर जगाया है, बच्चों जागो। तुम गाफिल हो (अलबेले हो) सोये पड़े हो, इसको कहा जाता है अज्ञान नींद। वह नींद तो सब करते हैं। सतयुग में भी करते हैं। अभी सब हैं अज्ञान की नींद में। बाप आकर ज्ञान देकर सबको जगाते हैं। अब तुम बच्चे जागे हो, जानते हो बाबा आया हुआ है, हमको ले जायेगा। अभी तो न यह शरीर काम का रहा है, न आत्मा, दोनों पतित बन पड़े हैं, एकदम मुलम्मे का है। 9 कैरेट कहें अर्थात् बहुत थोड़ा सोना, सच्चा सोना 24 कैरेट का होता है। अब बाप तुम बच्चों को 24 कैरेट में ले जाना चाहते हैं। तुम्हारी आत्मा को सच्चा-सच्चा गोल्डन एजेड बनाते हैं। भारत को सोने की चिड़िया कहते थे। अभी तो लोहे की, ठिक्कर भित्तर की चिड़िया कहेंगे। है तो चैतन्य ना। यह समझने की बाते हैं। जैसे आत्मा को समझते हो वैसे बाप को भी समझ सकते हो। कहते भी हैं चमकता है सितारा। बहुत छोटा सितारा है। डॉक्टरों आदि ने बहुत कोशिश की है देखने की परन्तु दिव्य दृष्टि बिगर देख नहीं सकते। बहुत सूक्ष्म है। कोई कहते हैं आंखों से आत्मा निकल गई, कोई कहते हैं मुख से निकल गई। आत्मा निकलकर जाती कहाँ है? दूसरे तन में जाकर प्रवेश करती है। अभी तुम्हारी आत्मा ऊपर चली जायेगी शान्तिधाम। यह पक्का मालूम है बाप आकर हमको घर ले जायेंगे। एक तरफ है कलियुग, दूसरे तरफ है सतयुग। अभी हम संगम पर खड़े हैं। वन्डर है। यहाँ करोड़ों मनुष्य हैं और सतयुग में सिर्फ 9 लाख! बाकी सबका क्या हुआ? विनाश हो जाता है। बाप आते ही हैं नई दुनिया की स्थापना करने। ब्रह्मा द्वारा स्थापना होती है। फिर पालना भी होती है दो रूप में। ऐसे तो नहीं 4 भुजा वाले कोई मनुष्य होंगे। फिर तो शोभा ही नहीं है। बच्चों को भी समझा देते हैं – चतुर्भुज है श्री लक्ष्मी, श्री नारायण का कम्बाइन्ड रूप। श्री अर्थात् श्रेष्ठ। त्रेता में दो कला कम हो जाती हैं। तो बच्चों को यह जो नॉलेज अभी मिलती है इसकी स्मृति में रहना है। मुख्य हैं ही दो अक्षर, बाप को याद करो। दूसरे कोई की समझ में नहीं आयेगा। बाप ही पतित-पावन सर्व शक्तिमान् है। गाते भी हैं बाबा, आपने हमको सारा आसमान धरती सब कुछ दे दिया। ऐसी कोई चीज़ नहीं जो न दी हो। सारे विश्व का राज्य दे दिया है।

तुम जानते हो यह लक्ष्मी-नारायण विश्व के मालिक थे। फिर ड्रामा का चक्र फिरता है। सम्पूर्ण निर्विकारी बनना है, नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार। यह भी जानते हो विकारी से निर्विकारी, निर्विकारी से विकारी, यह 84 जन्मों का पार्ट अनगिनत बार बजाया है। उसकी गिनती नहीं कर सकते। आदमशुमारी भल गिनती कर लेते हैं। बाकी यह जो तुम तमोप्रधान से सतोप्रधान, सतोप्रधान से तमोप्रधान बनते हो, इनका हिसाब निकाल नहीं सकते कि कितना बार बने हो। बाबा कहते हैं 5 हज़ार वर्ष का यह चक्र है। यह ठीक है। लाखों वर्ष की बात तो याद भी न रह सके। अभी तुम्हारे में गुणों की धारणा होती है। ज्ञान का तीसरा नेत्र मिल जाता है। इन आंखों से तुम पुरानी दुनिया को देखते हो। तीसरा नेत्र जो मिलता है, उनसे नई दुनिया को देखना है। यह दुनिया तो कोई काम की नहीं है। पुरानी दुनिया है। नई और पुरानी दुनिया में फ़र्क देखो कितना है। तुम जानते हो हम ही नई दुनिया के मालिक थे फिर 84 जन्म लेते-लेते यह बने हैं। यह अच्छी रीति याद रखना चाहिए और फिर दूसरे को भी समझाना है-कैसे हम यह बनते हैं? ब्रह्मा सो विष्णु, फिर विष्णु सो ब्रह्मा बनते हैं। ब्रह्मा और विष्णु का फ़र्क देखते हो ना। विष्णु कैसा सजा-सजाया बैठा है और यह ब्रह्मा कैसे साधारण बैठा है। तुम जानते हो यह ब्रह्मा, वह विष्णु बनने वाला है। यह किसको समझाना भी बहुत सहज है। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर का आपस में क्या सम्बन्ध है? तुम जानते हो यह विष्णु के दो रूप लक्ष्मी-नारायण हैं। यही विष्णु देवता सो फिर यह मनुष्य ब्रह्मा बनते हैं। वह विष्णु सतयुग का है, ब्रह्मा यहाँ का है। बाप ने समझाया है ब्रह्मा से विष्णु बनना सेकण्ड में, फिर विष्णु से ब्रह्मा बनने में 5 हज़ार वर्ष लगते हैं। ततत्वम्। केवल एक ब्रह्मा ही तो नहीं बनते हैं ना! यह बातें सिवाए बाप के और कोई समझा न सके। यहाँ कोई मनुष्य गुरू की बात नहीं है। इनका भी गुरू शिवबाबा, तुम ब्राह्मणों का भी गुरू शिवबाबा है। उनको सद्गुरू कहा जाता है। तो बच्चों को शिवबाबा को ही याद करना है। कोई को भी यह समझाना तो बहुत सहज है-शिवबाबा को याद करो। शिवबाबा स्वर्ग नई दुनिया रचते हैं। ऊंच ते ऊंच भगवान् शिव है। वह हम आत्माओं का बाबा है। तो भगवान् बच्चों को कहते हैं मुझ बाप को याद करो। याद करना कितना सहज है। बच्चा पैदा होता है और झट माँ-माँ उनके मुख से आपेही निकलता है। माँ-बाप के सिवाए और कोई पास नहीं जायेगा। माँ मर जाती है, वह फिर और बात है। पहले हैं माँ और बाप फिर पीछे और मित्र-सम्बन्धी आदि होते हैं। उसमें भी जोड़ी-जोड़ी होगी। चाचा-चाची दो है ना। कुमारी होगी फिर बड़ी होते ही कोई चाची कहेंगे, कोई मामी कहेंगे।

अभी तुमको बाप समझाते हैं तुम सब भाई-भाई हो। बस, और सब सम्बन्ध कैन्सल करते हैं। भाई-भाई समझेंगे तो एक बाप को याद करेंगे। बाप भी कहते हैं-बच्चों, मुझ एक बाप को याद करो। कितना बड़ा बेहद का बाप है। वह बड़ा बाबा तुमको बेहद का वर्सा देने आये हैं। घड़ी-घड़ी कहते हैं मनमनाभव। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो, यह बात भूलो मत। देह-अभिमान में आने से ही भूल जाते हैं। पहले-पहले तो अपने को आत्मा समझना है-हम आत्मा सालिग्राम हैं और एक बाप को ही याद करना है। बाप ने समझाया है मैं पतित-पावन हूँ, मुझे याद करने से तुम्हारी बैटरी जो खाली हो गई है वह भरपूर हो जायेगी, तुम सतोप्रधान बन जायेंगे। पानी की गंगा में तो जन्म-जन्मान्तर घुटका खाया है लेकिन पावन बन नहीं सके। पानी कैसे पतित-पावन हो सकता है? ज्ञान से ही सद्गति होती है। इस समय है ही पाप आत्माओं की झूठी दुनिया। लेन-देन भी पाप आत्माओं से ही होती है। मन्सा-वाचा-कर्मणा पाप आत्मा ही बनते हैं। अभी तुम बच्चों को समझ मिली है। तुम कहते हो हम यह लक्ष्मी-नारायण बनने के लिए पुरूषार्थ करते हैं। अभी तुम्हारी भक्ति करना बंद है। ज्ञान से सद्गति होती है। यह (देवतायें) सद्गति में हैं ना। बाप ने समझाया है यह बहुत जन्मों के अन्त में हैं। बाप कितना सहज समझाते हैं। तुम बच्चे कितनी मेहनत करते हो। कल्प-कल्प करते हो। पुरानी दुनिया को बदल नई दुनिया बनानी है। कहते हैं ना भगवान जादूगर है, रत्नागर है, सौदागर है। जादूगर तो है ना। पुरानी दुनिया को हेल से बदल हेविन बना देते हैं। कितना जादू है अभी तुम हेविन के रहवासी बन रहे हो। जानते हो अभी हम हेल के रहवासी हैं। हेल और हेविन अलग है। 5 हज़ार वर्ष का चक्र है। लाखों वर्ष की तो बात ही नहीं। यह बातें भूलनी नहीं चाहिए। भगवानुवाच है ना-कोई जरूर है जो पुनर्जन्म रहित है। कृष्ण को तो शरीर है। शिव को है नहीं। उनको मुख तो जरूर चाहिए। तुमको सुनाने के लिए आकर पढ़ाते हैं ना। ड्रामा अनुसार सारी नॉलेज ही उनके पास है। वह सारे कल्प में एक ही बार आते हैं दु:खधाम को सुखधाम बनाने। सुख-शान्ति का वर्सा जरूर बाप से मिला है तब तो मनुष्य चाहते हैं ना, बाप को याद करते हैं।

बाप ज्ञान देखो कैसे सहज रीति देते हैं। यहाँ बैठे भी बाप को याद करो, बाजोली याद करो तो भी मन्मनाभव ही है। बाप ही यह सारा ज्ञान देने वाला है। तुम कहेंगे हम बेहद के बाप पास जाते हैं। बाप हमको शान्तिधाम-सुखधाम ले जाने का रास्ता बताते हैं। यहाँ बैठे घर को याद करना है। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करना है, घर को याद करना है और नई दुनिया को याद करना है। यह पुरानी दुनिया तो खत्म होनी ही है। आगे चलकर तुम वैकुण्ठ को भी बहुत याद करेंगे। घड़ी-घड़ी वैकुण्ठ में जाते रहेंगे। शुरू में बच्चियाँ घड़ी-घड़ी आपस में बैठ वैकुण्ठ में चली जाती थी। यह देखकर बड़े-बड़े घर वाले अपने बच्चों को भेज देते थे। नाम ही रखा था ओम निवास। कितने ढेर बच्चे आये फिर हंगामा हुआ। बच्चों को पढ़ाते थे। आपेही ध्यान में चले जाते थे। अभी यह ध्यान-दीदार का पार्ट बंद कर दिया है। यहाँ भी कब्रिस्तान बना देते थे। सबको सुला देते थे, कहते थे अब शिवबाबा को याद करो, ध्यान में चले जाते थे। अब तुम बच्चे भी जादूगर हो। किसको भी देखेंगे और वह झट ध्यान में चले जायेंगे। यह जादू कितना अच्छा है। नौधा भक्ति में तो जब एकदम प्राण देने तैयार होते हैं तब उनको दीदार होता है। यहाँ तो बाप खुद आये हैं, तुम बच्चों को पढ़ाकर ऊंच पद प्राप्त कराते हैं। आगे चल तुम बच्चे बहुत साक्षात्कार करते रहेंगे। बाप से अभी भी कोई पूछे तो बता सकते हैं कौन गुलाब का फूल है, कौन चम्पा का फूल है, कौन टांगर है? टूह भी होती है ना। (टांगर, टूह यह सब वैरायटी फूलों के नाम हैं)। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) देह के सब सम्बन्ध कैन्सिल कर आत्मा भाई-भाई हैं, यह निश्चय करना है और बाप को याद कर पूरे वर्से का अधिकारी बनना है।

2) अब पाप आत्माओं से लेन-देन नहीं करनी है। अज्ञान नींद से सबको जगाना है, शान्तिधाम-सुखधाम जाने का रास्ता बताना है।

वरदान:- कमल पुष्प का सिम्बल बुद्धि में रख, अपने को सैम्पुल समझने वाले न्यारे और प्यारे भव
प्रवृत्ति में रहने वालों का सिम्बल है “कमल पुष्प”। तो कमल बनो और अमल करो। अगर अमल नहीं करते तो कमल नहीं बन सकते। तो कमल पुष्प का सिम्बल बुद्धि में रख स्वयं को सैम्पुल समझकर चलो। सेवा करते न्यारे और प्यारे बनो। सिर्फ प्यारे नहीं बनना लेकिन न्यारे बन प्यारे बनना क्योंकि प्यार कभी लगाव के रूप में बदल जाता है, इसलिए कोई भी सेवा करते न्यारे और प्यारे बनो।
स्लोगन:- स्नेह की छत्रछाया के अन्दर माया आ नहीं सकती।

TODAY MURLI 21 DECEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 21 December 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 20 December 2018 :- Click Here

21/12/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, do not delay in performing an auspicious task. Save your brothers and sisters from stumbling. Buzz knowledge to them and make them equal to yourselves.
Question: By which tragedy taking place has Bharat become like a shell?
Answer: The biggest tragedy is that people have forgotten the Lord of the Gita and called the child who takes birth through the knowledge of the Gita, the Lord. Because of misunderstanding this, everyone has turned away from the Father; Bharat has become like a shell. You children are now listening to the true Gita personally from the Father and it is with the knowledge of this Gita that the deity religion is being established. You become equal to Shri Krishna.
Song: Who created this play and hid Himself away?

Om shanti. The children who are the decoration of the Brahmin clan have understood that they truly had limitless happiness in heaven. We were very happy. We living beings were very intoxicated in heaven. What happened then? Colourful Maya came and clung to us. It is because of the vices that this is called hell; this whole world is hell. The example of the buzzing moth is given. The work of buzzing moths (bramaris) and the Brahmin teachers (Brahmanis) is the same. The example of the buzzing moth is based on you. The buzzing moth takes an insect, makes a home and puts the insect in that. This too is hell. All are like insects. However, not all insects belong to the deity clan. Whatever religion they belong to, they are all insects who are residents of hell. Who are the insects of the deity religion? How can you tell that these are the Brahmins of the clan of Brahma who sit and buzz knowledge? Only those who belong to the deity religion will be able to stay here. Those who don’t belong to this clan will not be able to stay here. All are insects, residents of hell. Even sannyasis say that this happiness of hell is like the droppings of a crow. They don’t know that there is limitless happiness in heaven. Here, there is 5% happiness and 95% sorrow. Therefore, this would not be called heaven. There is no question of sorrow in heaven. Here, there are innumerable scriptures, innumerable religions and innumerable directions. In heaven, there is the one undivided direction of the deities. There is just the one religion there. You are Brahmins. You buzz knowledge and then those who belong to this religion will stay here. There are many types. Some believe in nature, some believe in science and some say that this world is just imagination. Such conversations only take place here, not in the golden age. The unlimited Father sits here and explains to His children through the lotus mouth of Prajapita Brahma: You were with Me and you now have to come back to Me. The question of scriptures doesn’t arise in this. When Christ and Buddha come, they too relate something. There is no question of their scripture at that time. Did Christ study the Bible? The question of the Bible doesn’t arise at that time. The Father says: Children, look at your condition! Look at the condition Maya, Ravan, has made you! You understand that you are the devilish community of Ravan. They burn effigies of Ravan, but he doesn’t burn. When will the burning of Ravan end? People don’t know this. You are the Godly deity community; you are My children. I have come once again to teach you children Raja Yoga. There are innumerable religions. It takes so much effort to remove them from those. Where did the Gita come from? Where did the signs of the original, eternal, deity religion, which the rishis and munis sat and created and of which you have been hearing even now, come from? Who sung the Vedas? Who is the Father of the Vedas? The Father says: I am the God of the Gita. Shiv Baba created the Mother Gita and Krishna took birth through that. Radhe etc. are all included with him. First of all, there are Brahmins. You children have the faith that that One is our most beloved Father to whom everyone says: O G od, the Father ! Have mercy! Devotees call out: How can we be liberated from sorrow? If God is omnipresent, there is no need to call out. The main aspect is that of the Gita. People create so many sacrificial fires etc. You should now have such leaflets printed. Everything is so meaningless now. Wherever you look, they continue to write the Gita. They don’t know at all who created the Gita, who sung it, when it was sung or who made it. They don’t even have the accurate introduction of Shri Krishna. They simply say: Wherever I look, I only see the omnipresent Shri Krishna everywhere. Devotees of Radhe would say that they only see omnipresent Radhe, that Radhe is everywhere. If they were to say this of just the one incorporeal Supreme Soul, that would be OK. Why do they say that all are omnipresent? They even say that Ganesh is omnipresent. In just the one city of Mathura, someone would say that Krishna is omnipresent and someone else would say that Radhe is omnipresent. There is so much confusion. No two opinions are the same. In the one home, the guru of the father would be different from the guru of the child. In fact, gurus are adopted by those in the age of retirement. The Father says: I too have come in this one’s stage of retirement. In the world, the greater the guru, the more intoxication he has. Adi Dev has also been given the name, Mahavir. They even call Hanuman; Mahavir. You Shaktis are mahavirs. In the Dilwala Temple, the Shaktis are shown riding lions and the Pandavas are shown riding elephants. The temple has been built with great significance. It is your identical memorial. You would not be in existence at that time for your picture to be used. The temples were created in the copper age, and so where could your pictures have come from? You do service at this time. All of those things refer to the present time. They created the scriptures later. If we were not to mention the name of the Gita, they would say: We don’t know which new religion this is. This requires so much effort. Those people simply establish a religion in this world. The Father is preparing you for the new world. The Father says: No one else can carry out the task that I do. I have to make all the impure ones pure. I now have to give a warning to you children. So many calamities have taken place in Bharat and this is why Bharat has become like a shell. The Father gave birth to Krishna through the mother Gita, whereas those people have made Krishna the Lord of the Gita. The Lord of the Gita is, in fact, Shiva. He gave birth to Krishna through the Gita. All of you are Sanjays and the One giving you this knowledge is Shiv Baba. Who is the Creator of the ancient deity religion? Wisdom is required to write all of these things. We are taking birth through the Gita. Mama will become Radhe and this one will become Krishna. These are incognito matters. No one can understand the birth of Brahmins. The matter is between Krishna and the Supreme Soul. Brahma, Krishna and Shiv Baba: these are all deep things. Very wise people are needed to understand these things. The intellects of those who have full yoga will continue to become like a philosopher’s stone. This cannot stay in a wandering intellect. Baba is giving you children such elevated knowledge. Students also use their intellects. So, now sit and write this. One mustn’t delay in carrying out an auspicious task. We children of the Ocean should save our brothers and sisters. The poor ones are continually stumbling. They would say: Since the BKs proclaim this so loudly, there must be something in it. Have hundreds of thousands of leaflets printed and distribute them at the Gita pathshalas. Bharat is the imperishable land and the most elevated pilgrimage place. People have forgotten the pilgrimage place of the Father who grants salvation to all, and so His name has to be glorified again. Only Shiva is worthy of being offered flowers. All the rest are useless. There are many Gita pathshalas. You can change your costume and go there. Then let them think that you must be a BK. No one else could ask such questions. Achcha, you understand that Shiv Baba sits in the body of Brahma and explains all of these things. The Baba who makes you into masters of heaven has now come here. Until you become Brahmins, you cannot become deities. The Brahmin clan is even more elevated than the deity clan. All souls are becoming pure. You will then take rebirth in the new world. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Night C lass: 12/01/69

You children are sitting in remembrance of the one Father. To stay in remembrance of the One is called unadulterated remembrance. If, while sitting here, you remember anyone else, that is called adulterated remembrance. To eat, drink and live at home with someone while remembering someone else is cheating. Devotion too is unadulterated while you worship Shiv Baba alone, whereas to remember others is adulterated devotion. You children have now received knowledge. The one Father performs such wonders. He makes us into the masters of the world. So, we should remember that One alone. Mine is One alone. However, children say that they forget to remember Shiv Baba. Wonderful! On the path of devotion, you used to say that you would worship the One alone. He alone is the Purifier. No one else can be called the Purifier. Only the One is called this. He alone is the Highest on High. There is now no question of devotion. You children have knowledge. You have to remember the Ocean of Knowledge. On the path of devotion, they say: When You come, we will remember You alone. Therefore, you should remember those things. Each one of you should ask yourself: Do I remember the one Father or do I remember many friends and relatives? You have to attach your heart to the one Father. If your heart goes to anyone else, it becomes adulterated remembrance. The Father says: Children, constantly remember Me alone. Then you will have deity relatives there. In the new world, you will have all new relations. Therefore, you have to check: Whom do I remember? The Father says: Remember Me, the parlokik Father. I alone am the Purifier. Try to remove your intellects’ yoga from everyone else and remember the Father. The more you remember Him, the more your sins will be cut away. It isn’t that however much I remember Baba, He will remember me to the same extent. The Father doesn’t have to cut away any sins! You are now sitting here in order to become pure. Shiv Baba is also here. He doesn’t have a body of His own; He has taken this one on loan. You have promised the Father: Baba, when You come, we will belong to You and become the masters of the new world. Continue to ask your heart. You know that the link of your intellects’ yoga repeatedly breaks away from the Father. The Father knows that the linkwill be broken and that you will then remember Him and that the link will then break again. Children make effort, numberwise. If you stay in remembrance very well, you can come into this dynasty. Continue to check yourself. Keep a diary ; where did my intellect’s yoga go throughout the day? Then the Father will explain to you. The mind and intellect of the soul run everywhere. The Father says: When they run everywhere, there is a loss experienced. There is a lot of profit in remembering Me. There is only a loss in everything else. You have to remember the one main One. You have to be cautious with yourself. There is profit at every step; there is loss at every step. For 84 births, you remembered bodily beings and experienced nothing but loss. Day by day, 5000 years have gone by and there has been a loss all the time. Now stay in remembrance of the Father and experience profit. You have to churn the ocean of knowledge in this way and extract the jewels of knowledge. Stay in remembrance of the Father with concentration. Some children are worried about earning shells. Maya makes them think of their business etc. Wealthy ones have many thoughts. What can Baba do? Baba had such a good business. He didn’t need to stumble around. When a businessman came, Baba would ask him: Are you a businessman or an agent? While doing your business, you have to connect your intellect in yoga to the Father. The iron age is now ending and the golden age is coming. Impure ones will not go to the golden age. The more you remember Baba, the purer you will become. Through purity, there can be good dharna. Impure ones can neither stay in remembrance nor have dharna. According to their fortune, some find time and make effort, whereas others don’t have any time at all. They don’t remember Baba at all. However much effort they made in the previous cycle, that is what they will do now. Each one of you has to make effort for yourself. In earlier days, when there was a loss in business, they would say: It is the will of God! Now you say: It is the drama ! Whatever happened in the previous cycle will happen again. It isn’t that you have four hours of remembrance now, and so you will have more remembrance in the next cycle; no. You are given the teaching: If you make good effort now, you will make good effort every cycle. Therefore, check where your intellect goes. In wrestling, they have to be very careful. Achcha.

Spiritual BapDada says: Love, remembrance and good night to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to become wise, make your intellect like a philosopher’s stone with remembrance. Don’t allow your intellect to wander here and there. Only think about the things that the Father tells you.
  2. Become a buzzing moth and do the service of making the insects who are residents of hell into deities. Do not delay in carrying out an auspicious task. Save your brothers and sisters.
Blessing: May you have a right to the tilak of a future kingdom by having the tilak of the imperishable “suhaag” (being wed) and fortune.
At the confluence age you receive the tilak of the “suhaag” of the Deity of all deities and of the fortune of being a child of the Supreme Soul, God. If the tilak of “suhaag” and fortune is imperishable, Maya cannot erase it. Therefore, someone who wears a tilak of “suhaag” and fortune here claims a right to the tilak of a future kingdom. There is the festival of the royal tilak in every birth. Along with the king celebrating the day for receiving a tilak, this day of receiving the tilak is also celebrated by the royal family.
Slogan: Remain constantly merged in the love of One and this love will finish all effort.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 21 DECEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 21 December 2018

To Read Murli 20 December 2018 :- Click Here
21-12-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – शुभ कार्य में देरी नहीं करनी है, अपने भाई बहिनों को ठोकर खाने से बचाना है, भूं-भूं कर आप समान बनाना है”
प्रश्नः- किस बात का अनर्थ होने से भारत कौड़ी मिसल बन गया है?
उत्तर:- सबसे बड़ा अनर्थ हुआ है जो गीता के स्वामी को भूल, गीता ज्ञान से जन्म लेने वाले बच्चे को स्वामी कह दिया है। इसी एक अनर्थ के कारण सभी बाप से बेमुख हो गये हैं। भारत कौड़ी तुल्य बन गया है। अब तुम बच्चे बाप से सम्मुख में सच्ची गीता सुन रहे हो जिस गीता ज्ञान से ही देवी-देवता धर्म स्थापन होता है, तुम श्रीकृष्ण के समान बनते हो।
गीत:- किसने यह सब खेल रचाया…….. 

ओम् शान्ति। ब्राह्मण कुल भूषण बच्चे समझ गये हैं कि बरोबर हमको स्वर्ग में बहुत अपरमपार सुख थे, हम बहुत खुशी में थे, हम जीव आत्मायें स्वर्ग में बहुत मस्ती में थे फिर क्या हुआ? रंग रूप की माया आकर चटकी। विकारों के कारण ही इसको नर्क कहा जाता है। नर्क तो सारा है। अब यह जो भ्रमरी का मिसाल देते हैं, भ्रमरी और ब्राह्मणी दोनों का काम एक है। भ्रमरी का मिसाल तुम्हारे ऊपर है। भ्रमरी कीड़े ले जाती है। घर बनाकर उसमें कीड़े डाल देती है। यह भी नर्क है। सब कीड़े हैं। परन्तु सब कीड़े देवी-देवता धर्म वाले नहीं हैं। जो भी धर्म वाले हैं सब नर्कवासी कीड़े हैं। अब देवी-देवता धर्म के कीड़े कौन हैं, यह कैसे पता पड़े कि यह ब्रह्मा वंशी ब्राह्मणियां हैं जो बैठ भूं-भूं करती हैं। जो देवता धर्म के होंगे वही ठहर सकेंगे। जो नहीं होंगे, ठहरेंगे नहीं। नर्कवासी कीड़े तो सभी हैं। सन्यासी भी यही कहते हैं कि नर्क का यह सुख काग विष्टा समान है। उनको यह पता नहीं कि स्वर्ग में अथाह सुख हैं। यहाँ पर 5 परसेन्ट सुख और 95 परसेन्ट दु:ख है। तो इसको कोई स्वर्ग नहीं कहा जायेगा। स्वर्ग में तो दु:ख की बात नहीं रहती। यहाँ तो अनेक शास्त्र, अनेक धर्म तथा अनेक मतें हो गई हैं। स्वर्ग में तो एक ही अद्वेत देवता मत है। एक ही धर्म है। तो तुम हो ब्राह्मणियां। तुम भूं-भूं करती हो फिर जो इस धर्म के हैं वह ठहर जाते हैं। अनेक प्रकार के हैं। कोई नेचर को मानते, कोई साइन्स को, कोई कहते यह सृष्टि कल्पना मात्र है। ऐसी वार्तालाप यहाँ ही चलती है, सतयुग में नहीं चलती। यह बेहद का बाप प्रजापिता ब्रह्मा के मुख कमल से अपने बच्चों को बैठ समझाते हैं कि तुम मेरे पास थे, अब फिर मेरे पास आना है। इसमें शास्त्रों की तो बात नहीं उठती। क्राइस्ट तथा बुद्ध आते हैं, वह भी आकर सुनाते हैं, उस समय तो शास्त्र का प्रश्न उठ न सके। क्राइस्ट बाइबिल पढ़ता था क्या? बाइबिल का प्रश्न ही नहीं उठता। बाप कहते हैं – बच्चे, तुम अपनी हालत तो देखो। माया रावण ने तुम्हारी कैसी हालत कर दी है! समझते भी हैं कि हम आसुरी रावण सम्प्रदाय हैं। रावण को जलाते हैं परन्तु जलता नहीं। रावण का जलना बन्द कब होगा? यह मनुष्यों को पता नहीं है। तुम हो ईश्वरीय दैवी सम्प्रदाय। तुम बच्चे हो हमारे, अब मैं फिर आया हूँ तुम बच्चों को राजयोग सिखलाने। अनेक धर्म हैं। उनमें से निकालने में कितनी मेहनत लगती है। गीता भी कहाँ से आई? आदि सनातन धर्म जो था उनकी निशानियां कहाँ से निकली? जो फिर ऋषि-मुनियों ने बैठ बनाई, जो अब तक सुनते आये हैं। वेद किसने गाये? वेदों का बाप कौन है? बाप कहते हैं कि गीता का भगवान् मैं हूँ। गीता माता रची शिवबाबा ने, उससे जन्म लिया कृष्ण ने। उनके साथ राधे आदि सब आ जाते हैं। पहले हैं ही ब्राह्मण।

तुम बच्चों को निश्चय है कि वह हमारा मोस्ट बीलव्ड बाप है – जिसको सब कहते हैं ओ गॉड फादर रहम करो। भक्त पुकारते हैं कि कैसे दु:ख से छूटें। अगर भगवान् सर्वव्यापी हो तो फिर पुकारने की बात ही नहीं। मुख्य है गीता की बात, कितने यज्ञ आदि रचते हैं। अब तुम ऐसे पर्चे छपाओ। अब कितना अनर्थ हो गया है। जहाँ-तहाँ देखो गीता लिखते रहते हैं। गीता किसने रची, किसने गाई, कब गाई, किसने बनाई, कुछ भी पता नहीं है। श्रीकृष्ण का भी यथार्थ परिचय नहीं है। बस, कह देते जिधर देखो सर्वव्यापी कृष्ण ही कृष्ण है। राधे के भक्त राधे के लिए कहेंगे सर्वव्यापी राधे ही राधे है। एक निराकार परमात्मा को ही कहें तो भी ठीक। सबको क्यों सर्वव्यापी कर दिया है। गणेश के लिए भी कहेंगे सर्वव्यापी। एक ही मथुरा शहर में कोई कहेंगे श्रीकृष्ण सर्वव्यापी है, कोई कहेंगे राधे सर्वव्यापी है। कितनी मूंझ हो गई है। एक की मत न मिले दूसरे से। एक ही घर में बाप का गुरू अलग तो बच्चे का गुरू अलग। वास्तव में गुरू किया जाता है वानप्रस्थ में। बाप कहते हैं मैं भी आया हूँ इनकी वानप्रस्थ अवस्था में। दुनिया में तो जितना जो बड़ा गुरू होता है उनको उतना नशा रहता है। आदि देव को महावीर भी नाम दिया है। हनूमान को भी महावीर कहते हैं। महावीर तो तुम शक्तियां हो। देलवाड़ा मन्दिर में शक्तियों की शेर पर सवारी है और पाण्डवों की हाथियों पर। मन्दिर बड़ा युक्ति से बना हुआ है। हूबहू तुम्हारा यादगार है। तुम तो उस समय होंगे नहीं जो तुम्हारा चित्र दें। मन्दिर तो द्वापर में बने हैं तो तुम्हारे चित्र कहाँ से आयेंगे। सर्विस तो तुम अभी कर रहे हो। बातें सब अभी की हैं। उन्होंने बाद में शास्त्र बनाये हैं। हम अगर गीता का नाम न लें तो मनुष्य समझेंगे – पता नहीं, यह कौन-सा नया धर्म है? कितनी मेहनत लगती है। वह इस दुनिया में सिर्फ धर्म स्थापन करते हैं। तुमको तो नई दुनिया के लिए बाप तैयार करते हैं।

बाप कहते हैं मेरे जैसा कर्तव्य कोई कर न सके। सब पतितों को पावन बनाना पड़ता है। अब तुम बच्चों को वारनिंग देनी पड़े। भारत में कितना अनर्थ हो गया है जिस कारण ही भारत कौड़ी तुल्य बना है। बाप ने गीता माता द्वारा कृष्ण को जन्म दिया, उन्होंने फिर कृष्ण को गीता का स्वामी बना दिया है। गीता का स्वामी तो शिव है, उसने गीता से कृष्ण को जन्म दिया । तुम सब संजय हो, सुनाने वाला एक शिवबाबा है। प्राचीन देवी-देवता धर्म का रचने वाला कौन? यह सब लिखने में बुद्धि चाहिए। गीता से हम जन्म ले रहे हैं। मम्मा राधे और यह फिर कृष्ण बनेगा। यह गुप्त बातें हैं ना। ब्राह्मणों का जन्म कोई समझ न सके। बात ही है कृष्ण और परमात्मा की। ब्रह्मा, कृष्ण और शिवबाबा – यह सब बातें गुह्य हैं ना। इन बातों को समझने वाला बड़ा बुद्धिवान चाहिए। जिनका योग पूरा होगा, उनकी बुद्धि पारस बनती जायेगी। भटकने वाले की बुद्धि में यह ठहर न सके। बाबा तुम बच्चों को कितनी ऊंची नॉलेज दे रहे हैं। विद्यार्थी अपनी बुद्धि भी चलाते हैं ना। तो अभी बैठकर लिखो। शुभ कार्य में देरी नहीं करनी चाहिए। हम सागर के बच्चे अपने भाई-बहनों को बचायें। बिचारे ठोकर खाते रहते हैं। कहेंगे बी.के. इतनी रड़ियां मारती हैं, कुछ तो बात होगी। लाखों पर्चे छपवाकर गीता पाठशालाओं आदि में बांटो। भारत अविनाशी खण्ड है और सर्वोत्तम तीर्थ है। जो बाप सबको सद्गति देते हैं उनके तीर्थ स्थान को गुम कर दिया है तो फिर उनका नाम निकालना पड़े। फूल चढ़ाने लायक एक शिव ही है। बाकी तो सब व्यर्थ हैं। गीता पाठशालायें बहुत हैं। तुम वेष बदलकर वहाँ जाओ। फिर भल समझें यह बी.के.होंगी। ऐसे प्रश्न कोई पूछ न सके। अच्छा –

तुम समझते हो कि शिवबाबा ब्रह्मा तन से बैठ यह बातें समझाते हैं। जो बाबा स्वर्ग का मालिक बनाने वाला है, वह अभी आया हुआ है। जब तक ब्राह्मण न बनें तब तक देवता बन न सकें। ब्राह्मण कुल देवताओं से भी ऊंच है। सबकी आत्मा पावन हो रही है। तुम फिर नई दुनिया में पुनर्जन्म लेंगे। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

रात्रि क्लास 12.1.69

तुम बच्चे एक बाप की याद में बैठे हो, एक की याद में रहना इसे कहेंगे अव्यभिचारी याद। अगर यहाँ बैठे भी दूसरे कोई की याद आती है तो व्यभिचारी याद कहेंगे। खाना पीना, रहना एक घर में, याद दूसरे को करना यह तो ठगी हो गई। भक्ति भी जब तक एक शिवबाबा की करते हैं तब तक अव्यभिचारी भक्ति हुई फिर औरों को याद करना यह व्यभिचारी भक्ति हो जाता है। अभी तुम बच्चों को ज्ञान मिला है, एक बाप कितनी कमाल करते हैं! हमको विश्व का मालिक बनाते हैं। तो उस एक को ही याद करना चाहिए। मेरा तो एक। परन्तु बच्चे कहते हैं शिवबाबा की याद भूल जाती है। वाह! भक्ति मार्ग में तो तुम कहते थे हम एक की ही भक्ति करेंगे। वही पतित-पावन है, और तो कोई को पतित-पावन नहीं कहा जाता। एक को ही कहा जाता है। वही ऊंच ते ऊंच है। अभी तो भक्ति की बात ही नहीं। बच्चों को ज्ञान है। ज्ञान सागर को याद करना है। भक्ति मार्ग में कहते हैं आप आयेंगे तो हम आपको ही याद करेंगे। तो यह बातें याद करनी चाहिए। हरेक अपने से पूछे हम एक बाप को याद करते हैं या अनेक मित्र, सम्बन्धियों आदि को याद करते हैं? एक बाप से ही दिल लगानी है। अगर दिल और तरफ गई तो याद व्यभिचारी हो जाती है। बाप कहते हैं बच्चे मामेकम् याद करो। फिर वहाँ तुम्हें दैवी सम्बन्धी मिलेंगे। नई दुनिया में सभी नये मिलेंगे। तो अपनी जांच रखनी है कि हम किसको याद करते हैं? बाप कहते हैं तुम मुझ पारलौकिक बाप को याद करो। मैं ही पतित-पावन हूँ, कोशिश कर और तरफ से बुद्धियोग हटाकर बाप को याद करना है। जितना याद करेंगे उतना ही पाप कटेंगे। ऐसा नहीं कि जितना हम याद करेंगे उतना बाबा भी याद करेंगे। बाप को कोई पाप थोड़ेही काटने है। अभी तुम यहाँ बैठे हो पावन बनने लिए। शिवबाबा भी यहाँ है। उन्हें अपना शरीर तो है नहीं, लोन लिया हुआ है। तुम्हारी बाप से प्रतिज्ञा की हुई है – बाबा आप आयेंगे तो हम आपके बन नई दुनिया के मालिक बनेंगे। अपने दिल से पूछते रहो। यह तो जानते हो बुद्धि-योग की लिंक घड़ी-घड़ी बाप से टूट जाती है। बाप जानते हैं लिंक टूटेगी, फिर याद करेंगे, फिर टूटेगी। बच्चे नम्बरवार तो पुरूषार्थ करते ही हैं। अच्छी रीति याद में रहे तो इस डिनायस्टी में आ जायेंगे। अपनी जांच करते रहो, डायरी रखो। सारे दिन में हमारा बुद्धियोग कहाँ-कहाँ गया? तो फिर बाप समझायेंगे। आत्मा में जो मन, बुद्धि है वह भागती है। बाप कहते हैं भागने से घाटा पड़ जायेगा। मुझे याद करने से बहुत फायदा है, बाकी तो नुकसान ही नुकसान है। याद करना है मुख्य एक को। अपने ऊपर खबरदारी रखनी है, कदम-कदम पर फायदा, कदम-कदम पर घाटा। 84 जन्म देहधारियों को याद कर घाटा ही पाया। एक-एक दिन होकर 5000 वर्ष बीत गये, घाटा ही हुआ, अभी बाप की याद में रह फायदा करना है।

ऐसे विचार सागर मंथन कर ज्ञान रत्न निकालने हैं, बाप की याद में एकाग्रचित हो लगना है। कई बच्चों को कौड़ियां कमाने की चिंता रहती है। माया धंधे आदि के विचार ले आती है। धनवान को तो बहुत विचार आते हैं। बाबा क्या करे। बाबा का कितना अच्छा धंधा था, धक्के आदि खाने की दरकार ही नहीं थी। कोई व्यापारी आता था तो मैं पूछता था पहले यह तो बताओ व्यापारी हो या एजेन्ट हो? (हिस्ट्री) तुम्हें धन्धा आदि करते बुद्धि का योग बाप से रखना है। अभी कलियुग पूरा हो सतयुग आता है। पतित तो सतयुग में जायेंगे ही नहीं। जितना याद करेंगे उतना ही पवित्र बनेंगे। प्युरिटी से धारणा अच्छी होगी। पतित न याद कर सकेंगे, न धारणा होगी। कोई को तकदीर अनुसार समय मिलता है, पुरूषार्थ करते हैं, कोई को समय ही नहीं मिलता, याद ही नहीं करते। जिसने जितनी कोशिश कल्प पहले की है उतनी करते हैं। हरेक को अपने से मेहनत करनी है। कमाई में घाटा पड़ता था तो आगे कहते थे ईश्वर की इच्छा। अभी कहते हैं ड्रामा। जो कल्प पहले हुआ है वह होगा। ऐसे नहीं अभी 4 घण्टा याद करते हो तो दूसरे कल्प में जास्ती करेंगे। नहीं। शिक्षा दी जाती है। अभी पुरूषार्थ करेंगे तो कल्प-कल्प अच्छा पुरूषार्थ होगा। तो जांच करो बुद्धि कहाँ-कहाँ जाती है। मलयुद्ध में बड़ी खबरदारी रखते हैं। अच्छा – रूहानी बच्चों को रूहानी बापदादा का याद-प्यार गुडनाइट।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बुद्धिवान बनने के लिए याद से अपनी बुद्धि को पारस बनाना है। बुद्धि इधर-उधर भटकानी नहीं है। बाप जो सुनाते हैं उस पर ही विचार करना है।

2) भ्रमरी बन भूं-भूं कर नर्कवासी बने हुए कीड़ों को देवी-देवता बनाने की सेवा करनी है। शुभ कार्य में देरी नहीं करनी है। अपने भाई-बहिनों को बचाना है।

वरदान:- अविनाशी सुहाग और भाग्य के तिलकधारी सो भविष्य के राज्य तिलकधारी भव
संगमयुग पर देवों के देव के सुहाग और परमात्म वा ईश्वरीय सन्तान के भाग्य का तिलक प्राप्त होता है। यदि यह सुहाग और भाग्य का तिलक अविनाशी है, माया इस तिलक को मिटाती नहीं है तो यहाँ के सुहाग और भाग्य के तिलकधारी सो भविष्य के राज्य तिलकधारी बनते हैं। हर जन्म में राज्य तिलक का उत्सव होता है। राजा के साथ रॉयल फैमिली का भी तिलक दिवस मनाया जाता है।
स्लोगन:- सदा एक के स्नेह में समाये रहो, तो यह मुहब्बत मेहनत को समाप्त कर देगी।
Font Resize