21 august ki murli

TODAY MURLI 21 AUGUST 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 21 August 2020

21/08/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, instil knowledge into your intellects and hold classes among yourselves. Bring benefit to yourselves and others and continue to earn a true income.
Question: What arrogance should you children never have?
Answer: Some children become arrogant and say, “What can these little kumaris teach us?” When their senior sister has to go away somewhere, some sulk and stop coming to class. This is an obstacle from Maya. Baba says: Children, don’t look at the name and form of the teacher who is reading the murli. Listen to the murli in remembrance of the Father. Don’t become arrogant.

Om shanti. The Father sits here and explains to the children. Now, when you speak of the Father, it cannot be a physical father of so many children. This is the spiritual Father. He has many children and the tape recorder, murli and all the facilities are for the children. You children know that you are now sitting at the confluence age in order to become the most elevated human beings. This is also a matter of great happiness. Only the Father can make you elevated. This Lakshmi and Narayan were elevated human beings, were they not? It is only in this world that there are elevated, mediocre and degraded human beings. In the beginning they are elevated, in the middle they are mediocre and at the end they are degraded. Everything is at first new and elevated, then mediocre, and then degraded, that is, old. It is the same with the world. Therefore, you have to explain to people whatever aspect they have doubts about. Generally, many ask you why you keep Brahma’s picture. Therefore, you should take up the picture of the tree. Tell them: Look, he is now doing tapasya beneath it, and then, at the end of his final birth, he is standing at the top. The Father says: I enter him. Someone who is very clever is needed to explain these things. When even one person is senseless and does not know how to explain well, that one person defames the name of all the Brahma Kumars and Kumaris. Although you will pass completely at the end, no one can become 16 celestial degrees full now; all are definitely numberwise in explaining. Those who don’t love the Supreme Father, the Supreme Soul, definitely have non-loving intellects. You can tell them about this. Those who have loving intellects are victorious, whereas those whose intellects have no love are led to destruction. Some people become upset about this and then make false allegations. They don’t take long to start a fight. What can one do in those circumstances? Sometimes, they don’t hesitate to set fire to the pictures. Baba advises you to have the pictures insured. The Father knows the children’s stage. Baba also continues to explain every day about the criminal eye. Some write to Baba: Baba, the things you explained about the criminal eye are absolutely right. This world is tamopradhan, is it not? Day by day, it is becoming more and more tamopradhan. They think that the iron age is still in its stage of infancy. They are fast asleep in the sleep of ignorance. Sometimes, they even say: This is the time of the Mahabharat War, and so God must definitely be here in some form. However, they don’t show His form. He surely has to enter someone. “The Lucky Chariot” has been remembered. Each soul has his own chariot which he enters when he comes. This one is called “The Lucky Chariot”. However, Baba doesn’t take birth; He comes and sits next to this one and gives you knowledge. Everything is explained so clearly to you. There is also the picture of the Trimurti. Brahma, Vishnu and Shankar are called the Trimurti. They must definitely have done something before going away. This is why roads and buildings are named “Trimurti” after them. Similarly, there is a road called Subhash Road. Everyone knows the history of Subhash (Subhash Chandra Bose, freedom fighter for independence of India). Their histories are written after they have been and gone. Then, statues are made of them and they are made out to be great people. They sit and write such great things. Similarly, Guru Nanak’s scripture has been made so large. He didn’t even write so much. Instead of writing knowledge, they have written things about devotion. These pictures etc. are created in order to explain to others. You know that everything you see with your physical eyes is going to be burnt. However, souls cannot stay here; they will definitely go back home. Such things don’t remain in the intellect of everyone. If they have imbibed them, why don’t they give classes? There isn’t anyone who is prepared to give class even after seven to eight years. Many places just run like that (without a teacher). Nevertheless, it is understood that the status of mothers is higher. There are many pictures. Then they imbibe the murli and explain a little about it. Anyone can do this: it is very easy, but Baba can’t understand why they still ask for a teacher. When their teacher has to go somewhere, they start sulking and stop going to class. Then there is conflict among them. Anyone can give class and yet, sometimes, they say that they don’t have the time. You have to benefit yourselves and others. This is a huge income. You have to inspire human beings to earn a true income so that their lives can become as valuable as diamonds. All of you will go to heaven. There is constant happiness there. It isn’t that the lifespans of the subjects are shorter. No, even the subjects have long lifespans; that is the land of immortality. However, the status is higher or lower. Therefore, you can give a class on any topic. Why do you say that you need to have a good teacher? You can hold classes amongst yourselves. You mustn’t keep asking for someone to come. Some become arrogant and say: What can these little kumaris teach us? There are many obstacles of Maya comes. It doesn’t sit in their intellects. Baba explains to you every day. Shiv Baba does not explain on a particular topic. He is the Ocean. There continue to be waves of different topics. Sometimes, He explains for the children here and sometimes He gives an explanation for those outside. Everyone receives a murli. If you don’t understand the words, then you should learn, should you not? You have to make effort for your own progress. You have to benefit yourselves and others as well. Even though this father (Brahma Baba) can relate this knowledge to you children, your intellects must remain in yoga with Shiv Baba. This is why he says: Always consider that it is Shiv Baba who is speaking this; always remember Shiv Baba. Shiv Baba has come from the supreme abode and is speaking the murli. This Brahma does not come from the supreme abode to speak the murli. Always think that Shiv Baba has entered his body and is speaking the murli to you. Keep this in your intellect. When you keep this in your intellects accurately, that too is the pilgrimage of remembrance. However, while sitting here, the intellects’ yoga of many wanders here and there. Here, you can stay on the pilgrimage very well. Otherwise, you remember your village, home and family. It remains in your intellects that Shiv Baba is sitting in this one and teaching us. We were listening to the murli while in remembrance of Shiv Baba. Then, where did our intellects’ yoga go? The intellects’ yoga of many of you is distracted in this way. Here, you can stay on the pilgrimage very well. You understand that Shiv Baba has come from the supreme abode. You don’t think this when you are living in your village. Some believe that they do listen to Shiv Baba’s murli with their ears. In that case, they would not remember the name and form of the person reading the murli. All of this knowledge is a matter for the inner self. Internally, have the awareness that you are listening to Shiv Baba’s murli. Do not think that such-and-such a sister is reading it to you. You are listening to Shiv Baba’s murli. These are also methods to stay in remembrance. It is not that all the time you are listening to the murli, you are in remembrance; no. Baba says: The intellects of many wander outside. They remember their farms and fields etc. The intellect’s yoga should not wander outside. There is no difficulty in remembering Shiv Baba, but Maya doesn’t allow you to stay in remembrance. You are unable to remember Shiv Baba all the time because other thoughts come in between. You are all numberwise according to the efforts you make. These aspects will quickly sit in the intellects of those who are close. Not everyone can enter the rosary of eight. You have to examine yourself to see that you have knowledge, yoga and divine virtues. There aren’t any weaknesses in myself, are there? I do not perform any sinful actions due to the influence of Maya, do I? Some become very greedy. There is also the evil spirit of greed. Maya enters and they keep saying that they are hungry, and the stomach constantly wants something. Some are tempted by food so much. There has to be discipline in eating. There are many children now, and there will be even more children. There will be so many Brahmins. I tell you children to become Brahmins. Mothers are kept at the front. It is said, “Victory to the Shiv Shakti Mothers of Bharat.” The Father says: Consider yourselves to be souls and remember the Father. Continue to spin the discus of self-realisation. You Brahmins are spinners of the discus of self-realisation. Anyone new will not be able to understand these aspects. You are the most elevated mouth-born creation of Brahma, the decoration of the Brahmin clan, spinners of the discus of self-realisation. Anyone new who hears this would say that the discus of self-realisation belongs to Vishnu and that this one is saying that all of you are this; he would not believe these things. This is why new ones are not allowed to come into this gathering; they would not be able to understand. Some then become upset and say: Are we senseless that we are not allowed to come here? This is because anyone can go into other gatherings. There, they only relate things of the scriptures. Everyone has a right to listen to those. Here, you have to be cautious. When this knowledge of God doesn’t sit in their intellects, they become upset. You also have to be very careful with the pictures. You have to establish your divine kingdom in this devilish kingdom. Just as Christ came to establish his religion, so the Father has come to establish the divine kingdom. There is no question of violence in this. Neither do you commit violence with the sword of lust nor do you commit any physical violence. It is said that God washes the dirty clothes. Human beings are in complete darkness. The Father comes and changes that total darkness and brings light. In spite of saying, “Baba”, some still turn their faces away from Baba; they stop studying. God is teaching you to make you into the masters of the world. Anyone who stops studying such a study is called a great fool. You receive such great treasures. You should never leave such a Father. There is the song: Whether You love me or You reject me, I will never leave your door. The Father has come to give you your unlimited kingdom. There is no question of leaving Him. Yes, you do have to imbibe divine virtues. Mothers send Baba reports which say that they are being harassed. People nowadays are very bad; you have to be very cautious. Brothers have to take care of the sisters. Under all circumstances, I, the soul, definitely have to claim my inheritance from the Father. If you leave the Father, your inheritance is finished. A faithful intellect is victorious and a doubtful intellect is led to destruction. Then, the status is very much reduced. Only the one Father, the Ocean of Knowledge, can give knowledge. Everything else is devotion. No matter how much someone considers himself to be a knowledgeable soul, the Father says: All of them only have knowledge of the scriptures and devotion. Human beings don’t know what true knowledge is. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Pay attention while listening to the murli that your intellect’s yoga does not wander anywhere else. Remain constantly aware that you are listening to Shiv Baba’s elevated versions. This too is the pilgrimage of remembrance.
  2. Examine yourself to see that you have knowledge, yoga and divine virtues within you. I don’t have the evil spirit of greed, do I? Do I perform any sinful acts due to the influence of Maya?
Blessing: May you be an easy yogi who uses the lift of a divine intellect to tour around the three worlds.
At the confluence age, all the children receive a lift of a divine intellect. With this wonderful lift, you can go wherever you want in the three worlds. Simply put on your switch of awareness and you will arrive there in a second. You can remain stable and experience whichever world you want for as long as you want. In order to use this lift, be careful at amrit vela to set the switch of your awareness accurately. Be an authority and use this lift and you will become an easy yogi and all hard work will finish.
Slogan: The art of living is to keep your mind constantly in a state of pleasure.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 21 AUGUST 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 21 August 2020

Murli Pdf for Print : – 

21-08-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – ज्ञान को बुद्धि में धारण कर आपस में मिलकर क्लास चलाओ, अपना और औरों का कल्याण कर सच्ची कमाई करते रहो”
प्रश्नः- तुम बच्चों में कौन-सा अहंकार कभी नहीं आना चाहिए?
उत्तर:- कई बच्चों में अहंकार आता है कि यह छोटी-छोटी बालकियाँ हमें क्या समझायेंगी। बड़ी बहन चली गई तो रूठकर क्लास में आना बंद कर देंगे। यह हैं माया के विघ्न। बाबा कहते – बच्चे, तुम सुनाने वाली टीचर के नाम-रूप को न देख, बाप की याद में रह मुरली सुनो। अहंकार में मत आओ।

ओम् शान्ति। बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं। अब बाप जब कहा जाता है तो इतने बच्चों का एक जिस्मानी बाप तो हो नहीं सकता। यह है रूहानी बाप। उनके ढेर बच्चे हैं, बच्चों के लिए यह टेप मुरली आदि सामग्री है। बच्चे जानते हैं अभी हम संगमयुग पर बैठे हैं पुरूषोत्तम बनने के लिए। यह भी खुशी की बात है। बाप ही पुरूषोत्तम बनाते हैं। यह लक्ष्मी-नारायण पुरूषोत्तम हैं ना। इस सृष्टि में ही उत्तम पुरूष, मध्यम और कनिष्ट होते हैं। आदि में हैं उत्तम, बीच में हैं मध्यम, अन्त में हैं कनिष्ट। हर चीज़ पहले नई उत्तम फिर मध्यम फिर कनिष्ट अर्थात् पुरानी बनती है। दुनिया का भी ऐसे है। तो जिन-जिन बातों पर मनुष्यों को संशय आता है, उस पर तुमको समझाना है। बहुत करके ब्रह्मा के लिए ही कहते हैं कि इनको क्यों बिठाया है? तो उनको झाड़ के चित्र पर ले आना चाहिए। देखो नीचे भी तपस्या कर रहे हैं और ऊपर में एकदम अन्त में बहुत जन्मों के अन्त के जन्म में खड़े हैं। बाप कहते हैं मैं इनमें प्रवेश करता हूँ। यह बातें समझाने वाला बड़ा अक्लमंद चाहिए। एक भी बेअक्ल निकलता है, तो सभी बी.के. का नाम बदनाम हो जाता है। पूरा समझाना आता नहीं है। भल कम्पलीट पास तो अन्त में ही होते हैं, इस समय 16 कला सम्पूर्ण कोई बन न सके लेकिन समझाने में नम्बरवार जरूर होते हैं। परमपिता परमात्मा से प्रीत नहीं है तो विप्रीत बुद्धि ठहरे ना। इस पर तुम समझा सकते हो जो प्रीत बुद्धि हैं वह विजयन्ती और जो विप्रीत बुद्धि हैं वह विनशन्ती हो जाते हैं। इस पर भी कई मनुष्य बिगड़ते हैं, फिर कोई न कोई इल्ज़ाम लगा देते हैं। झगड़ा-फसाद मचाने में देरी नहीं करते हैं। कोई कर ही क्या सकते हैं। कभी चित्रों को आग लगाने में भी देरी नहीं करेंगे। बाबा राय भी देते हैं – चित्रों को इन्श्योर करा दो। बच्चों की अवस्था को भी बाप जानते हैं, क्रिमिनल आई पर भी बाबा रोज़ समझाते रहते हैं। लिखते हैं – बाबा, आपने जो क्रिमिनल आई पर समझाया है यह बिल्कुल ठीक कहा है। यह दुनिया तमोप्रधान है ना। दिन-प्रतिदिन तमोप्रधान बनते जाते हैं। वो तो समझते हैं कलियुग अभी रेगड़ी पहन रहा है (घुटनों के बल चल रहा है) अज्ञान नींद में बिल्कुल सोये हुए हैं। कभी-कभी कहते भी हैं यह महाभारत लड़ाई का समय है तो जरूर भगवान कोई रूप में होगा। रूप तो बताते नहीं। उनको जरूर किसमें प्रवेश होना है। भाग्यशाली रथ गाया जाता है। रथ तो आत्मा का अपना होगा ना। उसमें आकर प्रवेश करेंगे। उनको कहा जाता है भाग्यशाली रथ। बाकी वह जन्म नहीं लेते हैं। इनके ही बाजू में बैठ ज्ञान देते हैं। कितना अच्छी रीति समझाया जाता है। त्रिमूर्ति चित्र भी है। त्रिमूर्ति तो ब्रह्मा-विष्णु-शंकर को कहेंगे। जरूर यह कुछ करके गये हैं। जो फिर रास्तों पर, मकान पर भी त्रिमूर्ति नाम रखा है। जैसे इस रोड को सुभाष मार्ग नाम दिया है। सुभाष की हिस्ट्री तो सब जानते हैं। उन्हों के पीछे बैठ हिस्ट्री लिखते हैं। फिर उनको बनाकर बड़ा कर देते हैं। कितनी भी बड़ाई बैठ लिखें। जैसे गुरुनानक का पुस्तक कितना बड़ा बनाया है। इतना उसने तो लिखा नहीं है। ज्ञान के बदले भक्ति की बातें बैठ लिखी हैं। यह चित्र आदि तो बनाये जाते हैं समझाने के लिए। यह तो जानते हैं इन आंखों से जो कुछ दिखाई पड़ता है यह सब भस्म हो जाना है। बाकी आत्मा तो यहाँ रह न सके। जरूर घर चली जायेगी। ऐसी-ऐसी बातें कोई सबकी बुद्धि में बैठती थोड़ेही है। अगर धारणा होती है तो क्लास क्यों नहीं चलाते। 7-8 वर्ष में ऐसा कोई तैयार नहीं होता जो क्लास चला सके। बहुत जगह ऐसे चलाते भी हैं। फिर भी समझते हैं माताओं का मर्तबा ऊंच है। चित्र तो बहुत हैं फिर मुरली धारण कर उस पर थोड़ा समझाते हैं। यह तो कोई भी कर सकते हैं। बहुत सहज है। फिर पता नहीं क्यों ब्राह्मणी की मांगनी करते हैं। ब्राह्मणी कहाँ गई तो बस रूठकर बैठ जाते हैं। क्लास में नहीं आते, आपस में खिटपिट हो जाती है। मुरली तो कोई भी बैठ सुना सकते हैं ना। कहेंगे फुर्सत नहीं। यह तो अपना भी कल्याण करना है तो औरों का भी कल्याण करना है। बहुत भारी कमाई है। सच्ची कमाई करानी है जो मनुष्यों का हीरे जैसा जीवन बन जाये। स्वर्ग में सब जायेंगे ना। वहाँ सदैव सुखी रहते हैं। ऐसे नहीं, प्रजा की आयु कम होती है। नहीं, प्रजा की भी आयु बड़ी होती है। वह है ही अमर लोक। बाकी पद कम-जास्ती होते हैं। तो कोई भी टॉपिक पर क्लास कराना चाहिए। ऐसे क्यों कहते हैं अच्छी ब्राह्मणी चाहिए। आपस में क्लास चला सकते हैं। रड़ी नहीं मारनी चाहिए। कोई-कोई को अहंकार आ जाता है – यह छोटी-छोटी बालकियां क्या समझायेंगी? माया के विघ्न भी बहुत आते हैं। बुद्धि में नहीं बैठता।

बाबा तो रोज़ समझाते रहते हैं, शिवबाबा तो टॉपिक पर नहीं समझायेंगे ना। वह तो सागर है। उछलें मारते रहेंगे। कभी बच्चों को समझाते, कभी बाहर वालों के लिए समझाते। मुरली तो सबको मिलती है। अक्षर नहीं जानते हैं तो सीखना चाहिए ना – अपनी उन्नति के लिए पुरूषार्थ करना चाहिए। अपना भी और दूसरों का भी कल्याण करना है। यह बाप (ब्रह्मा बाबा) भी सुना सकते हैं ना, परन्तु बच्चों का बुद्धियोग शिवबाबा तरफ रहे इसलिए कहते हैं हमेशा समझो शिवबाबा सुनाते हैं। शिवबाबा को ही याद करो। शिवबाबा परमधाम से आये हैं, मुरली सुना रहे हैं। यह ब्रह्मा तो परमधाम से नहीं आकर सुनाते हैं। समझो शिवबाबा इस तन में आकर हमको मुरली सुना रहे हैं। यह बुद्धि में याद होना चाहिए। यथार्थ रीति यह बुद्धि में रहे तो भी याद की यात्रा रहेगी ना। परन्तु यहाँ बैठे भी बहुतों का बुद्धियोग इधर-उधर चला जाता है। यहाँ तुम यात्रा पर अच्छी रीति रह सकते हो। नहीं तो गांव याद आयेगा। घरबार याद आयेगा। बुद्धि में यह याद रहता है – शिवबाबा हमको इसमें बैठ पढ़ाते हैं। हम शिवबाबा की याद में मुरली सुन रहे थे फिर बुद्धियोग कहाँ भाग गया। ऐसे बहुतों का बुद्धियोग चला जाता है। यहाँ तुम यात्रा पर अच्छी रीति रह सकते हो। समझते हो शिवबाबा परमधाम से आये हैं। बाहर गांवड़ों आदि में रहने से यह ख्याल नहीं रहता है। कोई-कोई समझते हैं शिवबाबा की मुरली इन कानों से सुन रहे हैं फिर सुनाने वाले का नाम-रूप याद न रहे। यह ज्ञान सारा अन्दर का है। अन्दर में ख्याल रहे शिवबाबा की मुरली हम सुनते हैं। ऐसे नहीं, फलानी बहन सुना रही है। शिवबाबा की मुरली सुन रहे हैं। यह भी याद में रहने की युक्तियां हैं। ऐसे नहीं कि जितना समय हम मुरली सुनते हैं, याद में हैं। नहीं, बाबा कहते हैं – बहुतों की बुद्धि कहाँ-कहाँ बाहर में चली जाती है। खेतीबाड़ी आदि याद आती रहेगी। बुद्धि योग कहाँ बाहर भटकना नहीं चाहिए। शिवबाबा को याद करने में कोई तकलीफ थोड़ेही है। परन्तु माया याद करने नहीं देती है। सारा समय शिवबाबा की याद रह नहीं सकती, और-और ख्यालात आ जाते हैं। नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार है ना। जो बहुत नज़दीक वाले होंगे उनकी बुद्धि में अच्छी रीति बैठेगा। सब थोड़ेही 8 की माला में आ सकेंगे। ज्ञान, योग, दैवीगुण यह सब अपने में देखना है। हमारे में कोई अवगुण तो नहीं है? माया के वश कोई विकर्म तो नहीं होता है? कोई-कोई बहुत लालची बन जाते हैं। लालच का भी भूत होता है। तो माया की प्रवेशता ऐसी होती है जो भूख-भूख करते रहते हैं – खाऊं-खाऊं पेट में बलाऊं……. कोई में खाने की बहुत आसक्ति होती है। खाना भी कायदे अनुसार होना चाहिए। ढेर बच्चे हैं। अब बहुत बच्चे बनने वाले हैं। कितने ब्राह्मण-ब्राह्मणियाँ बनेंगे। बच्चों को भी कहता हूँ – तुम ब्राह्मण बन बैठो। माताओं को आगे रखा जाता है। शिव शक्ति भारत माताओं की जय।

बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझो और बाप को याद करो। स्वदर्शन चक्र फिराते रहो। स्वदर्शन चक्रधारी तुम ब्राह्मण हो। यह बातें नया कोई आये तो समझ न सके। तुम हो सर्वोत्तम ब्रह्मा मुख वंशावली ब्राह्मण कुल भूषण, स्वदर्शन चक्रधारी। नया कोई सुने तो कहेंगे स्वदर्शन चक्र तो विष्णु को है। यह फिर इन सबको कहते रहते हैं, मानेंगे नहीं इसलिए नये-नये को सभा में एलाऊ नहीं करते। समझ नहीं सकेंगे। कोई-कोई फिर बिगड़ पड़ते हैं – क्या हम बेसमझ हैं जो आने नहीं दिया जाता है क्योंकि और-और सतसंगों में तो ऐसे कोई भी जाते रहते हैं। वहाँ तो शास्त्रों की ही बातें सुनाते रहते हैं। वह सुनना हर एक का हक है। यहाँ तो सम्भाल रखनी पड़ती है। यह ईश्वरीय ज्ञान बुद्धि में नहीं बैठता तो बिगड़ पड़ते हैं। चित्रों की भी सम्भाल रखनी पड़ती है। इस आसुरी दुनिया में अपनी दैवी राजधानी स्थापन करनी है। जैसे क्राइस्ट आया अपना धर्म स्थापन करने। यह बाप दैवी राजधानी स्थापन करते हैं। इसमें हिंसा की कोई बात नहीं है। तुम न काम कटारी की और न स्थूल हिंसा कर सकते हो। गाते भी हैं मूत पलीती कपड़ धोए। मनुष्य तो बिल्कुल घोर अन्धियारे में हैं। बाप आकर घोर अन्धियारे से घोर सोझरा करते हैं। फिर भी कोई-कोई बाबा कहकर फिर मुँह मोड़ देते हैं। पढ़ाई छोड़ देते हैं। भगवान विश्व का मालिक बनाने के लिए पढ़ाते हैं, ऐसी पढ़ाई को छोड़ दे तो उनको कहा जाता है महामूर्ख। कितना जबरदस्त खज़ाना मिलता है। ऐसे बाप को थोड़ेही कभी छोड़ना चाहिए। एक गीत भी है – आप प्यार करो या ठुकराओ, हम आपका दर कभी नहीं छोड़ेंगे। बाप आये ही हैं – बेहद की बादशाही देने। छोड़ने की तो बात ही नहीं। हाँ, लक्षण अच्छे धारण करने हैं। स्त्रियाँ भी रिपोर्ट लिखती हैं – यह हमको बहुत तंग करते हैं। आजकल लोग बहुत-बहुत खराब हैं। बड़ी सम्भाल रखनी चाहिए। भाइयों को बहनों की सम्भाल रखनी है। हम आत्माओं को कोई भी हालत में बाप से वर्सा जरूर लेना है। बाप को छोड़ने से वर्सा खलास हो जाता है। निश्चयबुद्धि विजयन्ती, संशयबुद्धि विनशन्ती। फिर पद बहुत कम हो जाता है। ज्ञान एक ही ज्ञान सागर बाप दे सकते हैं। बाकी सब है भक्ति। भल कोई कितना भी अपने को ज्ञानी समझें परन्तु बाप कहते हैं सबके पास शास्त्रों और भक्ति का ज्ञान है। सच्चा ज्ञान किसको कहा जाता है, यह भी मनुष्य नहीं जानते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ध्यान रखना है कि मुरली सुनते समय बुद्धियोग बाहर भटकता तो नहीं है? सदा स्मृति रहे कि हम शिवबाबा के महावाक्य सुन रहे हैं। यह भी याद की यात्रा है।

2) अपने आपको देखना है कि हमारे में ज्ञान-योग और दैवी गुण हैं? लालच का भूत तो नहीं है? माया के वश कोई विकर्म तो नहीं होता है?

वरदान:- दिव्य बुद्धि की लिफ्ट द्वारा तीनों लोकों का सैर करने वाले सहजयोगी भव
संगमयुग पर सभी बच्चों को दिव्य बुद्धि की लिफ्ट मिलती है। इस वन्डरफुल लिफ्ट द्वारा तीनों लोकों में जहाँ चाहो वहाँ पहुंच सकते हो। सिर्फ स्मृति का स्विच आन करो तो सेकण्ड में पहुच जायेंगे और जितना समय जिस लोक का अनुभव करना चाहो उतना समय वहाँ स्थित रह सकते हो। इस लिफ्ट को यूज़ करने के लिए अमृतवेले केयरफुल बन स्मृति के स्विच को यथार्थ रीति से सेट करो। अथॉरिटी होकर इस लिफ्ट को कार्य में लगाओ तो सहजयोगी बन जायेंगे। मेहनत समाप्त हो जायेगी।
स्लोगन:- मन को सदा मौज़ में रखना – यही जीवन जीने का कला है।

TODAY MURLI 21 AUGUST 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 21 August 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 20 August 2019:- Click Here

21/08/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, those of you who serve the whole universe are honestYou make many others similar to yourselves and are not those who love to rest.
Question: What words can you Brahmin children never say?
Answer: You Brahmins can never say, “We have no connection with Brahma, we remember Shiv Baba directly.” Without Father Brahma, you cannot be called Brahmins. Those who have no connectionwith Brahma, that is, those who are not the mouth-born creation of Brahma, are shudras. Shudras cannot become deities (directly).

Om shanti. The spiritual Father sits here and explains to you through Dada. Children have museums and exhibitions inaugurated, but, in fact, the unlimited Father held the inauguration a long time ago. These branches continue to emerge now. Many pathshalas are needed. First is this pathshala in which the Father resides. It is called Madhuban. You children know that the murli is always played in Madhuban. Whose? God’s. God is incorporeal. He plays the murli through the corporeal chariot. He is given the name, “The lucky chariot”. Any of you can understand that the Father enters this one. Only you children can understand, for no one else knows the Creator or the beginning, middle and end of creation. You have your inaugurations carried out by important people or a governoretc. Baba always continues to write: First of all, give the introduction of the Father and how He establishes the new world to those through whom you have the inauguration ceremony carried out. These are its branches that are being opened. Each one is opened by someone or other so that he or she can benefit, so that they understand that the Father truly has come. Establishment of the kingdom of peace in the world, that is, of the original eternal deity religion, is being carried out through Brahma. Its inauguration has already taken place. Its branches are now being opened, just as the branches of a bank continue to be opened. The Father alone has to come and give you knowledge. Only the Supreme Father, the Supreme Soul, has this knowledge and this is why He alone is called the Ocean of Knowledge. Only the spiritual Father has spiritual knowledge which He comes and gives to the spirits (souls). He explains: O souls, o children, consider yourselves to be souls. The name, soul, is common. It is said: Great soul, charitable soul, sinful soul. The Father, the Supreme Father, the Supreme Soul, is explaining to souls. Why would the Father come? He would definitely come to give you children the inheritance. Then, you have to go to the new satopradhan world. It is said: The history and geography of the world repeat. The new world and the old world are of human beings. The Father says: I have to come to make the world new. There cannot be a world without human beings. There used to be the kingdom of deities in the new world and that is now being established once again. You children have now become Brahmins from shudras. I have once again come to change you from Brahmins into deities. You can tell them that this is how the Father explains. How can you go to the new world? You souls are now impure and vicious and you now have to become viceless. A burden of sins of many births is on your heads. When does sin begin? For how many years does the Father make you into charitable souls? You children know all of this at this time. You remain charitable souls for 21 births and you then become sinful souls. Where there is sin, there would only be sorrow. The Father also tells you what the sins are. One is that you defame your religion. You have become so impure! You have been calling out to Me: O Purifier, come! So, I have now come. You insult the Father who makes you pure. You defame Him and this is why you have become sinful souls. People say: O Prabhu, I have been a sinner for many births. Come and purify me! The Father explains: I enter the one who has taken the maximum number of births at the end of his many births. What does Baba mean by “many births”? Children, “many births” means 84 births. Those who come at the beginning are the ones who take 84 births. First of all, it is this Lakshmi and Narayan who come here. You come here to change from an ordinary human into Narayan. You are told the story of the true Narayan. Has anyone ever told the story of becoming Rama or Sita? They have been defamed. The Father changes you from an ordinary man into Narayan and ordinary woman into Lakshmi. No one ever defames them. The Father says: I teach you Raj Yoga. The two forms of Vishnu are Lakshmi and Narayan. In their childhood, they are Radhe and Krishna. They are not brother and sister; they are the children of separate kings. He is a prince in one kingdom and she is a princess in another kingdom and, after their marriage, they are called Lakshmi and Narayan. Human beings don’t know any of these things. Those who had these things in their intellects in the previous cycle will be able to understand these things now. There are temples to Lakshmi and Narayan, Radhe and Krishna and to Vishnu, and that temple is called the Nar-Narayan Temple. They also have separate temples to Lakshmi and Narayan. There is a temple to Brahma too. They say: Salutations to the deity Brahma. They then say: Salutations to the Supreme Soul Shiva. He is separate. Deities cannot be called God. The Father explains: First of all, explain to the person whom you get to inaugurate something: God has already laid the foundation for peace in the world. There used to be peace in the world in the kingdom of Lakshmi and Narayan. They were the masters of the golden age. So, this is a huge Godly University or World Spiritual University for human beings to change from a man into Narayan and a woman into Lakshmi. Many people have used the name “World University”. In fact, they are not “World Universities”. The whole world is a universe. The unlimited Father opens just the one college in the whole world. You know that, to become pure, there is just the one World University which the Father establishes. We take the whole world to the lands of peace and happiness and this is why this is called a Godly World University. God comes and gives the whole world the inheritance of liberation and liberation-in-life. There is so much difference between what the Father says and what all of those people call a university. It is only the Father’s task to change the universe, that is, to change the whole world. They don’t allow us to use this name, but the Government itself uses this name. You have to explain this, but you should not explain this first. First of all, say: We are called Brahma Kumars and Kumaris. This one was given the name Brahma when the Father came and made him His chariot. The name Prajapita is very well known. Where did he come from? What is his father’s name? They show Brahma as a deity. The Father of the deities would definitely be the Supreme Soul. He is the Creator and Brahma would be called the first creation. His Father is Shiv Baba. He says: I enter this one and give you his introduction. You children have to explain that this is a Godly museum. The Father says: You called out to Me: O Purifier, come! Come and make us pure from impure! Now, you children, you souls, have to remember your Father and you will become pure from impure. The word “Manmanabhav” is from the Gita. God alone is the Ocean of Knowledge and the Purifier. Krishna cannot be the Purifier. He cannot enter the impure world. Only the Purifier Father would come into the impure world. Now remember Me and your sins will be burnt away. This is something so easy! You definitely have to say: God speaks. The Supreme Father, the Supreme Soul, says: The vice of lust is a great enemy. Previously, there was the viceless world and now it is the vicious world; there is nothing but sorrow everywhere. When you become viceless, there will be nothing but happiness. So you have to say: God speaks: Lust is the greatest enemy. By conquering it, you will become conquerors of the world. Remember the one Father. We also remember that One. When a college is opened, it is inaugurated. This too is a college and there are also many centres. The teachers are appointed for the centres. The teachers should also be concerned. Baba appoints very good teachers for the new centres so that they quickly make others similar to themselves and run to other centres to help in expanding service. The teacher would see who is able to read and explain the murli well, and would then tell that one: You can now sit here and continue to conduct class. Teachers would be tried out in this way, and then the main teacher would go away to another centre to start service there. It is the duty of teachers to start service at one centre and then go to another centre and start service there. Each teacher should establish 10 to 20 centres. A lot of service should be done. Continue to open your shops. Make others similar to yourselves and leave them there. It should enter your heart: I should make someone similar to myself and prepare her so that another centre can open. However, hardly any are that honest. Those who serve the whole universe are said to be honest. They open a centre, make someone similar to themselves and then go and serve another place. You mustn’t get stuck in one place. Achcha, if you are unable to explain to others, do something else. You should not become body conscious about that and feel: “How can I do that work, since I come from a rich family? I would feel pain if I did that.” Some people’s bones hurt by doing even a little work. That is called body consciousness. They don’t understand anything. You should serve others so that they too write to Baba: Baba, So-and-so explained to me and made my life worthwhile. Baba should receive proof of service. Each one of you should become a teacher. Then they themselves should write: Baba, there are many others who can look after the centre after I leave. I have made many others similar to us, and so we will continue to open centres. Such children are called flowers. If you don’t do service, how would you become flowers? This is a flower garden. So, it should be explained to those who carry out the inauguration: We are Brahma Kumars and Kumaris. We change from shudras into Brahmins and then we become deities. The Father is carrying out the establishment of this Brahmin clan, as well as the sun dynasty and the moon dynasty. At this time, all belong to the shudra clan. In the golden age, they belonged to the deity clan. Then they became those who belonged to the warrior and merchant clans. Baba knows that children forget so many points. First of all is the Brahmin clan, the children of Prajapita Brahma. Where did Brahma come from? This Brahma is sitting here. You should explain this very clearly. Establishment is being carried out through Brahma. Whose? Of the Brahmins. Then they are given teachings and made into deities. We are studying with the Father. They have written: God speaks to Arjuna. However, no one knows who Arjuna was. You know that we children of Brahma are Brahmins. Some say that they are Shiv Baba’s children and that they have no connection with Brahma. In that case, how can they become deities? It is only through Brahma that you will become that. How and through whom did Shiv Baba tell you to remember Him? He said that through Brahma. You are the children of Prajapita Brahma. You are called Brahma Kumars and Kumaris. You are the children of Brahma. So, you would definitely remember Brahma. Shiv Baba is teaching us through the body of Brahma. Brahma Baba is in the middle. How would you be able to become deities without first becoming Brahmins? You also have to know the chariot I enter. You have to become Brahmins. If you don’t consider Brahma to be your father, how can you be his child? If you don’t consider yourselves to be Brahmins, it means you are shudras. It is impossible for you to change instantly from shudras into deities. You cannot become deities without first becoming Brahmins and by remembering Shiv Baba. There is no need to become confused about this. So you have to explain to those who carry out the inauguration that the inauguration has already taken place through the Father. We also tell you: Simply remember the Father and your sins will be cut away. That Father alone is the Purifier and you will become pure and then become deities. You children can do a lot of service. Tell them: We are giving you the Father’s message. Now, whether you do that or not is up to you. We will go away having given you the message. There is no other way that you can become pure. Do service whenever you have time. You have a lot of time. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to increase the number of new centres, do the service of making others similar to yourselves. Continue to open centres. Don’t just sit in one place.
  2. Prepare a flower garden. Each one of you has to become a flower and make others into flowers, similar to yourself. Never have any body consciousness about doing any type of service.
Blessing: May you perform every deed of the daily schedule accurately and in a yuktiyukt manner and become a pure and worthy of worship soul.
The sign of pure and worthy of worship souls is that their every thought, word, deed and dream is accurate and yuktiyukt. There is some meaning in their every thought. It wouldn’t be that they just said something for the sake of it or that the words just emerged or they just did something or it just happened. A pure soul would be accurate and yuktiyukt in every deed according to the daily schedule and this is why their every deed is worshipped, that is, their whole daily schedule is worshipped. People have a vision of all their varieties of actions from waking up to going to sleep.
Slogan: In order to become part of the sun dynasty, always remain victorious and make your stage constant and stable.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 21 AUGUST 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 21 August 2019

To Read Murli 20 August 2019:- Click Here
21-08-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हारे में ऑनेस्ट वह है जो सारे यूनिवर्स की सेवा करे, बहुतों को आपसमान बनाये, आराम पसन्द न हो”
प्रश्नः- तुम ब्राह्मण बच्चे कौन-से बोल कभी भी बोल नहीं सकते हो?
उत्तर:- तुम ब्राह्मण ऐसे कभी नहीं बोलेंगे कि हमारा ब्रह्मा से कोई कनेक्शन नहीं, हम तो डायरेक्ट शिवबाबा को याद करते हैं। बिना ब्रह्मा बाप के ब्राह्मण कहला नहीं सकते, जिनका ब्रह्मा से कनेक्शन नहीं अर्थात् जो ब्रह्मा मुख वंशावली नहीं वह शूद्र ठहरे। शूद्र कभी देवता नहीं बन सकते हैं।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप बैठ समझाते हैं दादा के द्वारा – बच्चे म्यूज़ियम अथवा प्रदर्शनी का उद्घाटन कराते हैं परन्तु उद्घाटन तो बेहद के बाप ने कब से कर लिया है। अब यह शाखायें अथवा ब्रान्चेज निकलती रहती हैं। पाठशालायें बहुत चाहिए ना। एक तो है यह पाठशाला जिसमें बाप रहते हैं, इसका नाम रखा है मधुबन। बच्चे जानते हैं मधुबन में सदैव मुरली बजती रहती है। किसकी? भगवान् की। अब भगवान् तो है निराकार। मुरली बजाते हैं साकार रथ द्वारा। उनका नाम रखा है भाग्यशाली रथ। यह तो कोई भी समझ सकते हैं। इसमें बाप प्रवेश करते हैं, यह तो तुम बच्चे ही समझते हो। और तो कोई न रचता को, न रचना के आदि-मध्य-अन्त को जानते हैं। सिर्फ बड़े आदमी गवर्नर आदि हैं तो उनसे उद्घाटन कराते हैं। यह भी बाबा हमेशा लिखते रहते हैं कि जिनसे उद्घाटन कराते हो, उनको पहले परिचय देना है – बाप कैसे नई दुनिया स्थापन करते हैं। उनकी यह ब्रान्चेज खुल रही हैं। कोई न कोई से खुलवाते हैं ताकि उनका कल्याण हो जाये। कुछ समझें कि बरोबर बाप आया हुआ है। ब्रह्मा द्वारा स्थापना हो रही है – विश्व में शान्ति के राज्य की वा आदि सनातन देवी-देवता धर्म की। उसका उद्घाटन तो हो चुका है। अभी यह ब्रान्चेज खुल रही हैं। जैसेकि बैंक की ब्रैन्चेज खुलती जाती हैं। बाप को ही आकर नॉलेज देनी है। यह नॉलेज परमपिता परमात्मा में ही रहती है इसलिए उनको ही ज्ञान सागर कहा जाता है। रूहानी बाप में ही रूहानी ज्ञान है जो आकर रूहों को देते हैं। समझाते हैं – हे बच्चों, हे आत्माओं, तुम अपने को आत्मा समझो। आत्मा नाम तो कॉमन है। महान् आत्मा, पुण्य आत्मा, पाप आत्मा कहा जाता है। तो आत्मा को परमपिता परमात्मा बाप भी समझा रहे हैं। बाप क्यों आयेंगे? जरूर बच्चों को वर्सा देने लिए। फिर सतोप्रधान नई दुनिया में आना है। वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी रिपीट कहा जाता है। नई अथवा पुरानी दुनिया मनुष्यों की ही है। बाप कहते हैं मैं आया हूँ नई दुनिया रचने। बिगर मनुष्यों के तो दुनिया होती नहीं। नई दुनिया में देवी-देवताओं का राज्य था, जिसकी अब फिर से स्थापना हो रही है। अभी तुम बच्चे शूद्र से ब्राह्मण बने हो। फिर तुमको ब्राह्मण से देवता बनाने आया हूँ। तुम यह सुना सकते हो कि बाप ऐसे समझाते हैं। तुम नई दुनिया में कैसे जा सकते हो। अभी तो तुम्हारी आत्मा पतित विकारी है सो अब निर्विकारी बनना है। जन्म-जन्मान्तर के पापों का बोझा सिर पर है। पाप कब से शुरू होते हैं? बाप कितने वर्षों के लिए पुण्य आत्मा बनाते हैं? यह भी तुम बच्चे अभी जानते हो। 21 जन्म तुम पुण्य आत्मा रहते हो फिर पाप आत्मा बनते हो। जहाँ पाप होता है, वहाँ दु:ख ही होगा। पाप कौन से हैं? वह भी बाप बतलाते हैं। एक तो तुम धर्म की ग्लानि करते हो। कितने तुम पतित बन गये हो। मुझे बुलाते आये हो – हे पतित-पावन आओ, सो अब मैं आया हूँ। पावन बनाने वाले बाप को तुम गाली देते, ग्लानी करते हो इसलिए तुम पाप आत्मा बन पड़े हो। कहते भी हैं हे प्रभु जन्म-जन्मान्तर का पापी हूँ, आकर पावन बनाओ। तो बाप समझाते हैं कि जिसने सबसे जास्ती जन्म लिए हैं, उनके ही बहुत जन्मों के अन्त में प्रवेश करता हूँ। बाबा बहुत जन्म किसको कहते? बच्चे 84 जन्मों को। जो पहले-पहले आये हैं, वही 84 जन्म लेते हैं। पहले तो यही लक्ष्मी-नारायण आते हैं। यहाँ तुम आते ही हो नर से नारायण बनने के लिए। कथा भी सत्य नारायण की सुनाते हैं। कब राम-सीता बनने की कथा सुनाई है किसी ने? उसकी ग्लानि की हुई है। बाप बनाते ही हैं नर से नारायण, नारी से लक्ष्मी। जिनकी कभी कोई निंदा नहीं करते हैं। बाप कहते हैं मैं राजयोग सिखलाता हूँ। विष्णु के दो रूप यह लक्ष्मी-नारायण हैं। छोटेपन में राधे-कृष्ण हैं। यह कोई भाई-बहन नहीं, अलग-अलग राजाओं के बच्चे थे। वह महाराजकुमार, वह महाराजकुमारी, जिनको स्वयंवर के बाद लक्ष्मी-नारायण कहा जाता है। यह सब बातें कोई मनुष्य नहीं जानते। कल्प पहले यह सब बातें जिनकी बुद्धि में बैठी होंगी उनकी ही बुद्धि में बैठेंगी। इन लक्ष्मी-नारायण, राधे-कृष्ण आदि सबके मन्दिर हैं, विष्णु का भी मन्दिर है, जिनको नर-नारायण का मन्दिर कहते हैं। और फिर लक्ष्मी-नारायण का अलग-अलग मन्दिर भी है। ब्रह्मा का भी मन्दिर है। ब्रह्मा देवता नम: फिर कहते शिव परमात्माए नम: वह तो अलग हो गया ना। देवताओं को कभी भगवान् थोड़ेही कहा जाता है। तो बाप समझाते हैं पहले जिससे उद्घाटन कराना है, उनको समझाना है, विश्व में शान्ति स्थापन अर्थ भगवान् ने फाउन्डेशन लगा दिया है। विश्व में शान्ति लक्ष्मी-नारायण के राज्य में थी ना। यह सतयुग के मालिक थे ना। तो मनुष्य को नर से नारायण, नारी से लक्ष्मी बनाने की यह बड़ी गॉडली युनिवर्सिटी है अथवा ईश्वरीय विश्व विद्यालय है। विश्व विद्यालय तो बहुतों ने नाम रखे हैं। वास्तव में वह कोई वर्ल्ड युनिवर्सिटी है नहीं। युनिवर्स तो सारी विश्व हो गई। सारे विश्व में बेहद का बाप एक ही कॉलेज खोलते हैं। तुम जानते हो विश्व में पावन बनने की विश्व-विद्यालय केवल यह एक ही है, जो बाप स्थापन करते हैं। हम सारे विश्व को शान्तिधाम, सुखधाम ले जाते हैं इसलिए इसको कहा जाता है ईश्वरीय विश्व विद्यालय। ईश्वर आकर सारे विश्व को मुक्ति-जीवनमुक्ति का वर्सा देते हैं। कहाँ बाप की बात, कहाँ यह सब कहते रहते युनिवर्सिटी। युनिवर्स अर्थात् सारी दुनिया को चेन्ज करना, यह तो बाप का ही काम है। हमको यह नाम रखने नहीं देते और गवर्मेन्ट खुद रखती है। यह तो तुमको समझाना है, वह भी पहले तो नहीं समझायेंगे। बोलो, हमारा नाम ही है ब्रह्माकुमार-कुमारियां। इनका ब्रह्मा नाम ही तब पड़ा है जब बाप ने आकर रथ बनाया है। प्रजापिता नाम तो मशहूर है ना। वह आया कहाँ से? उनके बाप का नाम क्या है? ब्रह्मा को देवता दिखाते हैं ना। देवताओं का बाप तो जरूर परमात्मा ही होगा। वह है रचता, ब्रह्मा को कहेंगे पहली-पहली रचना। उनका बाप है शिवबाबा, वह कहते हैं मैं इनमें प्रवेश कर इनकी पहचान तुमको देता हूँ।

तो बच्चों को समझाना है – यह ईश्वरीय म्यूज़ियम है। बाप कहते हैं मुझे बुलाया ही है हे पतित-पावन आओ, आकर पतित से पावन बनाओ। अब हे बच्चों, हे आत्माओं, तुम अपने बाप को याद करो तो पतित से पावन बन जायेंगे। मनमनाभव यह अक्षर तो गीता के ही हैं। भगवान् एक ही ज्ञान सागर पतित-पावन है, कृष्ण तो पतित-पावन हो न सके। वह पतित दुनिया में आ न सके। पतित दुनिया में पतित-पावन बाप ही आयेंगे। अब मुझे याद करो तो पाप भस्म होंगे। कितनी सहज बात है। भगवानुवाच अक्षर जरूर कहना है। परमपिता परमात्मा कहते हैं काम विकार महाशत्रु है। पहले निर्विकारी दुनिया थी, अब विकारी दुनिया है। दु:ख ही दु:ख है। निर्विकारी होंगे तो फिर सुख ही सुख होगा। तो यह समझाना है भगवानुवाच काम महाशत्रु है, इस पर जीत पाने से तुम जगतजीत बनेंगे। एक बाप को याद करो। हम भी उनको याद करते हैं। जैसे कोई कॉलेज खुलता है तो उसका भी उद्घाटन कराते हैं ना। यह भी कॉलेज है, ढेर सेन्टर्स हैं। सेन्टर्स में टीचर्स मुकरर हैं। टीचर को भी ख्याल जरूर रखना चाहिए। बाबा नये-नये सेन्टर्स पर अच्छी-अच्छी ब्राह्मणियों (टीचर्स) को रखते हैं इसलिए कि जल्दी-जल्दी आप समान बनाकर फिर और सेन्टर्स पर भागना चाहिए सर्विस को उठाने लिए। देखेंगे कौन-कौन ठीक रीति मुरली पढ़कर सुना सकते हैं, समझा सकते हैं तो उनको कहेंगे अब तुम यहाँ बैठ क्लास चलाओ। ऐसी ट्रायल कराकर, उनको बिठाकर चला जाना चाहिए और जगह सेन्टर जमाने। ब्राह्मणियों का काम है एक सेन्टर जमाया फिर जाकर और सेन्टर जमावें। एक-एक टीचर को 10-20 सेन्टर्स स्थापन करने चाहिए। बहुत सर्विस करनी चाहिए। दुकान खोलते जायें, आप समान बनाकर कोई को छोड़ते जायें। दिल में आना चाहिए – कोई को आप समान बनाकर तैयार करूं तो और सेन्टर खुलें। परन्तु ऐसे ऑनेस्ट कोई बिरले रहते हैं। ऑनेस्ट उसको कहा जाता है जो सारे युनिवर्स की सेवा करे। एक सेन्टर खोला, आप समान बनाया, फिर दूसरे स्थान पर सेवा की। एक ही स्थान पर अटक नहीं जाना चाहिए। अच्छा, किसको समझा नहीं सकते हो तो और काम करो। उसमें देह-अभिमान नहीं आना चाहिए। मैं तो बड़े घर की हूँ, यह काम कैसे करूं…. हमको दर्द होगा। थोड़ा भी काम करने से हड्डी दु:खेगी, इसको देह-अभिमान कहा जाता है। कुछ भी समझते नहीं हैं, औरों की सर्विस करनी चाहिए ना। जो फिर वह भी लिखे कि बाबा फलानी ने हमको समझाया, हमारी जीवन बना दी। सर्विस का सबूत मिलना चाहिए। एक-एक टीचर बनना चाहिए। फिर खुद ही लिखे – बाबा, हमारे पिछाड़ी ढेर सम्भालने वाले हैं, हमने बहुत आप समान बनाये हैं, हम सेन्टर खोलते जायें। ऐसे बच्चे को कहेंगे फूल। सर्विस ही नहीं करेंगे तो फूल कैसे बनेंगे। फूलों का भी बगीचा है ना।

तो उद्घाटन करने वाले को भी समझाना चाहिए। हम ब्रह्माकुमार-कुमारियां हैं। शूद्र से ब्राह्मण बन देवता बनते हैं। बाप इस ब्राह्मण कुल और सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी कुल की स्थापना करते हैं। इस समय तो सब शूद्र वर्ण के हैं। सतयुग में देवता वर्ण के थे फिर क्षत्रिय, वैश्य वर्ण के बनें। बाबा जानते हैं कितनी प्वाइंट्स बच्चे भूल जाते हैं। पहले-पहले ब्राह्मण वर्ण, प्रजापिता ब्रह्मा की औलाद.. ब्रह्मा कहाँ से आये। यह ब्रह्मा बैठा है ना। अच्छी रीति समझाना चाहिए। ब्रह्मा द्वारा स्थापना, किसकी? ब्राह्मणों की। फिर उन्हों को शिक्षा दे देवता बनाते हैं। हम बाप से पढ़ रहे हैं। उन्होंने भगवानुवाच तो लिख दिया है अर्जुन प्रति। अब अर्जुन कौन था, किसको पता नहीं। तुम जानते हो हम ब्रह्मा की औलाद ब्राह्मण हैं। अगर कोई कहते हम तो शिवबाबा के बच्चे हैं, ब्रह्मा से हमारा कनेक्शन नहीं तो फिर देवता वह कैसे बनेंगे? ब्रह्मा के थ्रू ही बनेंगे ना। शिवबाबा ने तुमको कैसे, किस द्वारा कहा मुझे याद करो? ब्रह्मा द्वारा कहा ना। प्रजापिता ब्रह्मा के तो बच्चे हो ना। ब्रह्माकुमार-कुमारी कहलाते हो। हम ब्रह्मा के बच्चे हैं। तो जरूर ब्रह्मा याद आयेगा। शिवबाबा ब्रह्मा तन से पढ़ाते हैं। ब्रह्मा बाबा है बीच में। ब्राह्मण बनने बिगर देवता कैसे बन सकेंगे। मैं जिस रथ में आता हूँ, उनको भी जानना चाहिए। ब्राह्मण बनना चाहिए। ब्रह्मा को बाबा नहीं कहे तो बच्चा ही कैसे ठहरा। ब्राह्मण अपने को नहीं समझते तो गोया शूद्र हैं। शूद्र से फट देवता बनें मुश्किल है। ब्राह्मण बन शिवबाबा को याद करने बिगर देवता बन कैसे सकेंगे, इसमें मूँझने की भी दरकार नहीं। तो उद्घाटन करने वालों को भी समझाना है कि बाप द्वारा उद्घाटन हो चुका है। आपको भी बताते हैं कि सिर्फ बाप को याद करो तो पाप कट जायेंगे। वह बाप ही पतित-पावन है फिर तुम पावन बन देवता बन जायेंगे। बच्चे बहुत सर्विस कर सकते हैं। बोलो, हम बाप का पैगाम देते हैं। अब करो, न करो, तुम्हारी मर्जी। हम पैगाम देकर जाते हैं। और कोई भी रीति से पावन होना ही नहीं है। जब फुर्सत मिले, सर्विस करो। समय तो बहुत मिलता है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) नये-नये सेन्टर्स की वृद्धि करने के लिए आप समान बनाने की सेवा करनी है। सेन्टर्स खोलते जाना है। एक जगह पर बैठना नहीं है।

2) फूलों का बगीचा तैयार करना है। हरेक को फूल बनकर दूसरों को आप समान फूल बनाना है। किसी भी सेवा में देह-अभिमान न आये।

वरदान:- दिनचर्या के हर कर्म में यथार्थ और युक्तियुक्त चलने वाले पूज्य, पवित्र आत्मा भव
पूज्य, पवित्र आत्मा की निशानी है – उनका हर संकल्प, बोल, कर्म और स्वप्न यथार्थ अर्थात् युक्तियुक्त होगा। हर संकल्प में अर्थ होगा। ऐसे नहीं कि ऐसे ही बोल दिया, निकल गया, कर लिया, हो गया। पवित्र आत्मा सदा दिनचर्या के हर कर्म में यथार्थ, युक्तियुक्त रहती है इसलिए पूजा भी उनके हर कर्म की होती है अर्थात् पूरे दिनचर्या की होती है। उठने से लेकर सोने तक भिन्न-भिन्न कर्म के दर्शन होते हैं।
स्लोगन:- सूर्यवंशी बनना है तो सदा विजयी और एकरस स्थिति बनाओ।

TODAY MURLI 21 AUGUST 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 21 August 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 20 August 2018 :- Click Here

21/08/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet, beloved children, the Father has come to create the new world of heaven for you. Therefore, do not attach your hearts to this hell, but continue to forget it.
Question: In which form does the merciful Father have mercy for you children?
Answer: The Father says: In the form of the Father, I become as sweet as saccharine and give you children much more love than any human being could ever give you. I make you into the masters of the world of pure love. In the form of the Teacher, I give you such an education that you become queens of Paradise. This study is for becoming deities from human beings. These jewels of knowledge make you into the masters of the world.
Song: Who is the Mother and who is the Father?

Om shanti. The meaning of “Om shanti” has been explained to you children. The meaning of “Om” is: I am a soul. I, the soul, am a child of the incorporeal Supreme Soul. The father of the body is the one who gave it a birth. He is called the father who gives birth to this body, whereas Shiv Baba is the Father of souls. He is always the Father. Millions and billions of souls reside in the incorporeal world where they are constantly viceless. Impure souls cannot reside in the supreme abode. First of all, you have to make the aspect of being souls firm and that your Father is the Supreme Soul. In the relationship of souls, all are brothers. The father of this body is called the physical father. The Father of the soul is called the Father from beyond. He is the one Father of everyone. People call out: “O God the Father! O Purifier! Merciful One!” It is souls that call out to the Father. Souls along with their bodies are unhappy. Then, in the golden age, souls experience happiness in their bodies, which is why that is called the land of happiness, heaven. This is hell. It is sung that everyone remembers God at the time of sorrow…. They remember the Purifier. They understand that the Father, the Purifier, resides up above in the supreme abode. The Ganges cannot be the Purifier. The Ganges can be seen with your physical eyes. It is not possible to see the incorporeal Father or a soul. The Supreme Father, the Supreme Soul, who is the Bestower of Life and also the Bestower of Divine Insight, is called God , the Father, the Creator. Achcha, so where did the Mother come from? How can the Father create the world without the Mother? The M other is definitely needed. God, the Father, the Creator of the human world, is the Father of all. Since there is the Father, there must also be the Mother. The Father comes and explains: I am the incorporeal One. It is only when I come and get married that I can have children. However, I am not going to get married. Children have to be created without My getting married; therefore, I adopt you children. For instance, when a man wants an heir to leave his property to, but doesn’t have a wife, he would adopt someone; he himself becomes the mother and the father. Therefore, the unlimited Father says: I too am your Father. How I create children is a matter to be understood. The Father Himself comes and explains: I need a body. Therefore, I take the support of this one. You say that you are the children of God. Everyone is a child of God, but it is at this time that God appears personally in front of you children. He comes and adopts you. You understand that you have become Baba’s children. The Father is the Creator of heaven. He teaches you Raja Yoga in order to make you into the masters of heaven. He Himself sits here and explains: I am incorporeal God, the Father. How can the incorporeal One be the Creator of the human world? He adopts you children and He sits and explains to you: I am Shiva, the incorporeal One. You souls are also incorporeal. You go into the jail of a womb, whereas I do not go into the jail of a womb. For half the cycle, a womb is like a palace for you, and for the other half, it is like a jail, because for half a cycle Maya, Ravan makes you commit sin. Maya doesn’t exist in the golden age to make you impure and unhappy. I give you your inheritance of heaven for 21 births. The new world is called heaven. When a house grows old, you leave it and go to a new one. This world is also old. That is the new world, the golden age, the pure world. Therefore, the Father says: Beloved children, I am establishing heaven for you, and so why do you attach your hearts to this hell? Now, forget this hell. Remember Me, your Father, and heaven; continue to forget the old world. This is unlimited renunciation. Remove all your attachment from everything you see, including your old bodies. Just think that you have given everything to God. Your bodies, wealth, property and children are all to be destroyed. This is the same great Mahabharat War, through which the gates to liberation and liberation-in-life will be opened. It is called Haridwar (Gateway to God). Krishna is called Hari (Remover of Sorrow) and his gateway leads to Paradise. The Father comes and opens the gates to Paradise. No one impure can go there. This is why He purifies the impure and He liberates everyone from sorrow. No one else can liberate you. Only the Father is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. He says: I teach you Raja Yoga. I have come to give you constant happiness. I have brought Paradise on the palm of My hand for you. You become deities from human beings by studying Raja Yoga. The intellect also says that this is a matter to be understood. Consider this world to be old and that it is to become new again. Only the one Father is the Almighty Authority who, with His power, makes you into the masters of heaven. People want to have one kingdom, one Almighty Authority kingdom. That was there in the golden and silver ages, when there was the unshakeable, undivided, peaceful and happy kingdom of deities. There were no obstacles then. It was called the undivided kingdom. There was no other religion through which you could become unhappy. Just look, at present, although all the Christians belong to the one religion, there is a lot of conflict amongst them because this is the kingdom of Maya. Maya doesn’t exist in the golden age. Now they call out: O God , the Father , have mercy on us! Baba says: I have mercy on everyone. I liberate all of you children from sin, that is, I liberate you from this impure world. I take all of you souls back to the incorporeal world, but your bodies will be burnt here. Natural calamities have been remembered. You can see signs of them. There will definitely be famine. Now, the Father says: Remove your attachment from this dirty world. The unlimited Father is the Saccharine. He says: No one can love you as much as I love you. I am now making you into the masters of the pure world. You are now studying for the kingdom. Your aim and objective is in your intellects. No one new can understand anything until someone sits and explains to him. He has to sit over a period of one week and understand that he has to become a deity from a human being. This is why the Father is called the Magician. I make human beings into deities with the jewels of knowledge. He is also called the Jeweller, the Businessman and the Traveller. He comes and makes you into the emperors and empresses of heaven. He is such a beautiful Traveller. You were of no use. I now teach you and make you into the queens of Paradise. You understand that you are studying in order to become part of the sun and moon dynasties. The Supreme Soul is teaching you. What are you studying here? You would say: We are studying to become deities from human beings, because this world of human beings with devilish traits is to be destroyed. People even sing that they are virtueless, they have no virtue. Therefore, the merciful Father sits here and teaches you. People of all religions will accept the one incorporeal Father as God. Although human beings say: “God , the Father”, they don’t know who He is or where He comes. You now know that He comes into this old impure world, because He establishes the pure world. He makes this old world new. There is nothing but happiness in the new world. Baba says: I have to come every cycle in order to establish the new world. The intellect understands that, after the night, there is the day. There is the iron age in the cycle. After the iron age, the golden age will definitely come. You children are called spinners of the discus of self-realisation. The soul understands how he takes 84 births. No human being can grant salvation to another human being. It is I who come and explain to you. I enable you to become pure and gain victory over the world with the power of yoga. The Father is the Almighty Authority. You receive the unlimited inheritance from the Father. The earth, sky and sea etc. will all belong to you. Just look, here, they put boundaries in the sky and the water. They say that you mustn’t enter their waters. There, you rule over the whole world. Just imagine what heaven will be like! You cannot forget heaven. When someone dies, they say that he has gone to heaven but where is heaven? This must surely be hell. This is hell itself. All human beings are impure and unhappy. This is the kingdom of Ravan. They continue to burn his effigy but he doesn’t die. They make an effigy of Ravan 100 feet tall; they continue to increase its size. Day by day, they continue to make him taller, but they don’t understand anything. These things have to be understood. Just see, while the murli is being conducted, it is also being recorded on tape for the gopikas because they cannot live without the murli. Therefore, this arrangement has been made. Without the murli, they become desperate, because this murli is such that it makes your life as valuable as a diamond. Baba teaches you here and then this murli goes up to London and America etc. Children become very happy listening to it. It has been sung that the gopikas weren’t able to live without the murli. Only God, the Father , speaks this knowledge toyou. One main aspect has to be explained: That One is our unlimited Father from whom we receive our inheritance of heaven. The soul says: My Father is the Supreme Soul and He is teaching us souls. No one else can say, “I, the Supreme Soul, am teaching you souls”, or “I, the Supreme Soul, am knowledge-full”. Everything has been explained to you children very clearly, but not everyone’s intellect is the same. Some have satopradhan intellects, some sato intellects, some rajo intellects and some tamo intellects, and so what can the Teacher do? The Teacher would say that you didn’t pay full attention to your studies. God, the Father, is knowledge-full. Just as a teacher is knowledgefull and teaches students and makes them similar to himself, in the same way, it is only God, the Father , who has the knowledge of this world cycle. No one else has it. Only the Father teaches you this knowledge and makes you knowledge-full. The Father, the Highest on High is knowledgefull. His name is the highest and His abode is the highest. Brahma, Vishnu and Shankar are residents of the subtle region. Then, human beings are in the third grade. There are still grades amongst human beings. The grades of human beings in the golden age remain high. You go to the golden age ; the iron age will be destroyed. When it is the golden age, the silver age doesn’t exist, and when it is the copper age, the iron age doesn’t exist. All of these things have to be kept in your intellects, and this is why these pictures have been made. There are very few human beings in the golden age whereas there are countless human beings in the iron age. Children ask: Baba, when will destruction take place? Destruction will take place when this play comes to an end and everyone will then return home. Baba is the Guide to liberation and liberation-in-life. He resides in the supreme abode. You also reside there, but you come here to play your parts. The Father says: Children, you have to gain victory over Maya. There is no question of violence in this. There is no violence in the golden age. Only totally viceless deities exist there. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Make your intellect have unlimited renunciation. Remove your attachment from all the old things you can see with your physical eyes, including your body, and remember the Father and heaven.
  2. Imbibe this study very well and make your intellect satopradhan. The murli is your study and so you have to pay a lot of attention to the murli.
Blessing: May you have the fortune of happiness by experiencing bliss and being constantly entertained in Brahmin life.
Children who have the fortune of happiness constantly swing in the swing of happiness and experience bliss and entertainment in Brahmin life. This swing of happiness will remain stable all the time when the two strings of remembrance and service are tight. If even one string is loose, the swing would shake and the person swinging on it would fall. So, let both the strings be tight and strong and you will continue to be entertained. Have the company of the Almighty Authority and the swing of happiness and what more fortune of happiness could you want?
Slogan: Those who have feelings of mercy and a compassionate vision for all are great souls.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 21 AUGUST 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 21 August 2018

To Read Murli 20 August 2018 :- Click Here
21-08-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे लाडले बच्चे – बाप आये हैं तुम्हारे लिए स्वर्ग की नई दुनिया स्थापन करने, इसलिए इस नर्क से दिल न लगाओ, इनको भूलते जाओ”
प्रश्नः- रहमदिल बाप तुम बच्चों पर किस रूप से कौन-सा रहम करते हैं?
उत्तर:- बाबा कहते हैं – मैं बाप रूप से मीठी सैक्रीन बन तुम बच्चों को इतना प्यार देता हूँ जो दुनिया में दूसरा कोई भी दे न सके। मैं तुम्हें पवित्र प्यार की दुनिया का मालिक बना देता हूँ। टीचर बन तुम्हें ऐसी पढ़ाई पढ़ाता हूँ जो तुम बहिश्त की बीबी बन जाते हो। यह पढ़ाई है मनुष्य से देवता बनने की। यह ज्ञान रत्न तुम्हें विश्व का मालिक बना देते हैं।
गीत:- कौन है माता, कौन है पिता. …..

ओम् शान्ति। बच्चों को ओम् शान्ति का अर्थ समझाया जाता है। ओम् का अर्थ है – आई एम आत्मा, मैं आत्मा निराकार परमात्मा की सन्तान हूँ। शरीर का फादर वह है, जिसने जन्म दिया है। उनको कहा जाता है शरीर को जन्म देने वाला फादर और शिवबाबा है आत्माओं का बाप। वह तो है ही है। ढेर के ढेर करोड़ों आत्मायें अपनी निराकारी दुनिया में रहती हैं। वहाँ सदैव निर्विकारी ही हैं, विकारी तो परमधाम में रह न सकें। पहले तो यह बात पक्की करनी पड़ेगी – मैं आत्मा, मेरा बाप परमात्मा। आत्मा के सम्बन्धी सब भाई-भाई हैं। इस शरीर के बाप को कहा जाता है लौकिक बाप। आत्मा के बाप को कहा जाता है पारलौकिक बाप। जो सभी का एक ही है। पुकारते भी हैं ना – “ओ गॉड फादर, ओ पतित पावन, रहमदिल।” यह आत्मा ने पुकारा बाप को। आत्मा इस शरीर के साथ दु:खी है। फिर सतयुग में आत्मा को शरीर के साथ सुख है, इसलिए उसका नाम ही है सुखधाम, स्वर्ग। यह है नर्क। गाया भी जाता है ना दु:ख में सिमरण सब करें. . . . याद करते हैं पतित-पावन को। समझते हैं – पतित-पावन बाप ऊपर परमधाम में रहता है। गंगा को पतित-पावनी नहीं कहेंगे। गंगा को तो इन आंखों से देखा जाता है। निराकार बाप को अथवा आत्मा को नहीं देखा जा सकता। परमपिता परमात्मा प्राण दाता, जो दिव्य चक्षु विधाता है, उनको कहा जाता है ओ गॉड फादर, क्रियेटर। अच्छा, फिर मदर कहाँ से आई? मदर बिगर बाप सृष्टि की रचना कैसे रचें? मदर तो जरूर चाहिए ना। गॉड फादर मनुष्य सृष्टि का रचयिता, वह है सबका बाप। फादर है तो मदर भी जरूर होगी। बाप आकर समझाते हैं मैं हूँ ही निराकार। मैं जब आऊं, शादी करुँ तब बच्चे होंगे। परन्तु शादी तो करनी नहीं है। बच्चे पैदा करने हैं – शादी बिगर। बच्चों को मैं एडाप्ट करता हूँ। समझो कोई को स्त्री नहीं है, चाहते हैं कि अपनी मिलकियत किसको देकर जाऊं, फिर धर्म के बच्चे बनाते हैं, एडाप्ट करते हैं तो माँ-बाप दोनों ठहरे ना। तो बेहद का बाप कहते हैं कि मैं भी फादर हूँ। मैं कैसे रचूँ? समझ की बात है ना। बाप खुद आकर समझाते हैं मुझे शरीर तो चाहिए ना। तो इनका आधार लेता हूँ। तुम कहते हो हम ईश्वर की सन्तान हैं। ईश्वर की सन्तान तो सब हैं, परन्तु इस समय बाप सम्मुख आया हुआ है। तुम बच्चों को गोद में लेते हैं। तुम समझते हो हम बाबा के बच्चे बने हैं। बाप है स्वर्ग का रचयिता। स्वर्ग का मालिक बनाने के लिए राजयोग सिखलाते हैं। खुद बैठ बतलाते हैं – मैं निराकार गॉड फादर हूँ। निराकार को मनुष्य सृष्टि का रचयिता कैसे कह सकते? तो बच्चों को एडाप्ट कर उन्हों को ही बैठ समझाते हैं कि मैं शिव निराकार हूँ। तुम भी निराकार आत्मायें हो। तुम गर्भ जेल में आते हो, मैं गर्भ जेल में नहीं आता हूँ। तुम्हारे लिए है आधा कल्प गर्भ महल, आधा कल्प है गर्भ जेल क्योंकि आधाकल्प माया रावण पाप कराती है। सतयुग में माया होती नहीं जो पतित दु:खी बनाये। मैं 21 जन्मों के लिए तुमको स्वर्ग का वर्सा देता हूँ। नई दुनिया स्वर्ग को कहा जाता है। मकान भी पुराना होता है तो पुराने को छोड़ नये में जाते हैं। यह भी पुरानी दुनिया है ना। वह है नई दुनिया गोल्डन एज, पावन दुनिया। तो बाप कहते हैं – लाडले बच्चे, मैं तुम्हारे लिए स्वर्ग स्थापन कर रहा हूँ, तुम फिर नर्क से दिल क्यों लगाते हो? अब नर्क को भूल जाओ। मुझ बाप और स्वर्ग को याद करो, पुरानी दुनिया को भूलते जाओ। यह है बेहद का सन्यास। पुरानी देह सहित जो कुछ भी देखते हो, उनका भी ममत्व छोड़ो। समझो, हम सब कुछ ईश्वर को देते हैं। यह शरीर, धन, दौलत, बच्चे आदि सब ख़त्म हो जाने वाले हैं। यह वही महाभारी महाभारत लड़ाई है, जिसके द्वारा मुक्ति-जीवनमुक्ति के गेट्स खुलने हैं। हरी का द्वार कहते हैं ना। हरी कहा जाता है कृष्ण को, उनका द्वार है बैकुण्ठ। बैकुण्ठ के गेट बाप आकर खोलते हैं। वहाँ कोई पतित जा नहीं सकता इसलिए पतित से पावन बनाते हैं, दु:ख से लिबरेट करते हैं। और कोई लिबरेट कर न सके। दु:ख हर्ता, सुख कर्ता बाप ही है। बाप कहते हैं – मैं तुमको राजयोग सिखाता हूँ। सदा के लिए सुख देने आया हूँ। मैं तुम्हारे लिए बैकुण्ठ हथेली पर लाया हूँ। तुम राजयोग सीखकर मनुष्य से देवता बनते हो। बुद्धि भी कहती है कि बरोबर समझ की बातें हैं। समझो, यह पुरानी दुनिया है फिर यह नई बनेगी। सर्वशक्तिमान एक ही बाप है जो अपनी शक्ति से स्वर्ग का मालिक बनाते हैं। चाहते भी हैं एक राज्य हो, ऑलमाइटी अथॉरिटी राज्य हो। सो तो सतयुग-त्रेता में अटल, अखण्ड, सुख-शान्तिमय देवी-देवताओं की राजधानी थी, कोई विघ्न नहीं था। उनको अद्वैत राज्य कहा जाता है। दूसरा धर्म ही नहीं, जो दु:खी बनें। अभी देखो भल क्रिश्चियन एक ही धर्म के हैं तो भी उन्हों की आपस में बहुत लड़ाई होती है क्योंकि माया का राज्य है। सतयुग में माया होती नहीं। अभी कहते हैं – ओ गॉड फादर रहम करो। बाप कहते हैं – रहम तो सब पर करुँगा। सब बच्चों को पापों से मुक्त करता हूँ अर्थात् पतित दुनिया से लिबरेट करता हूँ। तुम सब आत्माओं को ले जाता हूँ निराकारी दुनिया में। बाकी शरीर तो भस्म हो जायेंगे। नैचुरल कैलेमिटीज गाई हुई है। आसार भी देख रहे हो। फैमन पड़ना जरूर है।

अब बाप कहते हैं इस छी-छी दुनिया से ममत्व तोड़ो। बेहद का बाप है पीन। कहते हैं मैं जो तुमको प्यार करता हूँ, सो कोई कर न सके। अभी तुमको पवित्र दुनिया का मालिक बनाता हूँ। राजाई के लिए तुम पढ़ रहे हो। एम ऑब्जेक्ट बुद्धि में है। नया तो कोई समझ न सके, जब तक कि कोई बैठ उनको समझावे। एक हफ्ता बैठ समझें कि मनुष्य से देवता बनना है इसलिए बाप को जादूगर कहा जाता है। ज्ञान रत्नों से मनुष्य को देवता बनाता हूँ। उनको रत्नागर, सौदागर, मुसाफिर भी कहते हैं। तुमको आकर स्वर्ग की महारानी-महाराजा बनाते हैं। मुसाफिर कितना हसीन है! तुम जो कोई काम के नहीं थे, अब तुमको पढ़ाकर बहिश्त की बीबी बनाता हूँ। तुम जानते हो हम सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी बनने के लिए पढ़ रहे हैं। परमात्मा पढ़ाते हैं। तुम यहाँ क्या पढ़ते हो? तुम कहेंगे मनुष्य से देवता बनने के लिए पढ़ रहे हैं क्योंकि यह आसुरी गुणों वाली मनुष्य सृष्टि विनाश होने वाली है। कहते भी हैं मुझ निर्गुण हारे में कोई गुण नाही। तो वही रहमदिल बाप बैठकर तुमको पढ़ाते हैं। सभी धर्मों वाले एक निराकार बाप को ही परमात्मा मानेंगे। मनुष्य भल गॉड फादर कहते हैं परन्तु जानते नहीं कि वह कौन है, कहाँ आते हैं? अभी तुम जानते हो वह पुरानी पतित दुनिया में आते हैं क्योंकि पावन दुनिया स्थापन करते हैं। पुरानी दुनिया को नई दुनिया बनाते हैं। नई दुनिया में तो सुख ही सुख है। बाबा कहते हैं नई दुनिया स्थापन करने कल्प-कल्प मुझे आना ही है। यह तो बुद्धि समझती है कि रात के बाद है दिन। फिर चक्र में कलियुग आता है। कलियुग के बाद फिर सतयुग जरूर होगा ना। तुम बच्चों को कहा ही जाता है स्वदर्शन चक्रधारी। आत्मा जानती है मैं 84 जन्म कैसे लेती हूँ। कोई मनुष्य, मनुष्य को सद्गति दे न सके। मैं ही आकर समझाता हूँ। हम तुमको पावन बनाते हैं, योगबल से तुम विश्व पर जीत पाते हो। बाप है सर्वशक्तिमान। बाप से तुमको बेहद का वर्सा मिलता है। आकाश, पृथ्वी, सागर आदि सब तुम्हारा हो जायेगा। यहाँ तो देखो आकाश पर भी हद, पानी पर भी हद लगी है ना। कहते हैं हमारे पानी के अन्दर तुम नहीं आओ। तुम तो वहाँ सारे विश्व पर राज्य करते हो ना। स्वर्ग तो फिर क्या! स्वर्ग को भूल नहीं सकते। मनुष्य जब मरते है तो कहते हैं स्वर्गवासी हुआ। परन्तु स्वर्ग है कहाँ? ज़रूर नर्क है ना। यह है ही हेल। सब मनुष्य दु:खी हैं, सब पतित हैं। यह राज्य ही रावण का है, जिसको जलाते रहते हैं परन्तु जलता ही नहीं है। रावण को एक सौ फुट लम्बा बनाते हैं और बढ़ाते रहते हैं। दिन-प्रतिदिन लम्बा करते रहते हैं परन्तु समझते नहीं हैं। यह समझ की बातें हैं।

यहाँ देखो मुरली चलती है तो फिर टेप में भरी जाती है क्योंकि गोपिकायें मुरली बिगर रह न सकें। तो यह प्रबन्ध है। मुरली बिगर तो तड़फते हैं क्योंकि यह मुरली है जीवन हीरे जैसा बनाने वाली। यहाँ बाबा पढ़ाते हैं, जो मुरली फिर लण्डन-अमेरिका तक जाती है। बच्चे सुनकर बहुत खुश होते हैं। गाया हुआ है गोपिकायें मुरली बिगर रह नहीं सकती थी। यह नॉलेज गॉड फादर ही सुनाते हैं। मुख्य एक बात समझानी है कि यह हमारा बेहद का बाप है, इनसे स्वर्ग का वर्सा मिलता है। आत्मा कहती है मेरा बाप परमात्मा है, वह आत्माओं को पढ़ा रहे हैं। ऐसा और कोई कह न सके कि मैं परमात्मा तुम आत्माओं को पढ़ाता हूँ। ऐसे भी नहीं कहेंगे कि मैं परम आत्मा नॉलेजफुल हूँ। तुम बच्चों को बहुत अच्छी रीति समझाया जाता है, परन्तु सबकी बुद्धि एकरस तो नहीं होती है। कोई की सतोप्रधान बुद्धि है, कोई की सतो, रजो, तमो…. इसमें टीचर क्या करेंगे? टीचर कहेंगे पढ़ाई पर पूरा अटेन्शन नहीं देते थे। गॉड फादर है नॉलेजफुल। जैसे टीचर नॉलेजफुल है, स्टूडेन्ट को पढ़ाते हैं, आप समान बनाते हैं, वैसे इस सृष्टि चक्र की नॉलेज गॉड फादर के पास ही है, और कोई नहीं जानते। बाप ही नॉलेज सिखलाए नॉलेजफुल बनाते हैं। बाप है नॉलेजफुल, सबसे ऊंच है। ऊंचा जिसका नाम है, ऊंचा ठांव है। ब्रह्मा-विष्णु-शंकर है सूक्ष्मवतनवासी। थर्ड ग्रेट में हैं मनुष्य। मनुष्यों में भी ग्रेड है। सतयुग में मनुष्यों की ग्रेड बड़ी ऊंची रहती है। तुम गोल्डन एज में जाते हो। आइरन एज खत्म हो जायेगा। गोल्डन एज है तो सिल्वर एज नहीं, कॉपर एज है तो आइरन एज नहीं। यह सब बातें बुद्धि में रखनी है, इसलिए चित्र बनवाये हैं। सतयुग में बहुत थोड़े मनुष्य होते हैं। कलियुग में तो ढेर के ढेर मनुष्य हैं। पूछते हैं – बाबा, विनाश कब होगा? विनाश तब होगा जब नाटक पूरा होगा, सब चले जायेंगे। बाबा है मुक्ति जीवनमुक्ति का गाइड। वह रहते हैं परमधाम में। तुम भी वहाँ के रहने वाले हो, यहाँ आये हो पार्ट बजाने। बाप कहते हैं – बच्चे, तुम्हें माया पर जीत पानी है। इसमें हिंसा की कोई बात नहीं है। सतयुग में हिंसा होती नहीं। वहाँ हैं ही सम्पूर्ण निर्विकारी देवी-देवतायें। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बुद्धि से बेहद का सन्यास करना है। पुरानी देह सहित जो कुछ इन आंखों से दिखाई देता है उनसे ममत्व निकाल बाप और स्वर्ग को याद करना है।

2) पढ़ाई को अच्छी रीति धारण कर बुद्धि को सतोप्रधान बनाना है। मुरली ही पढ़ाई है। मुरली पर बहुत-बहुत ध्यान देना है।

वरदान:- ब्राह्मण जीवन में सदा आनंद वा मनोरंजन का अनुभव करने वाले खुशनसीब भव
खुशनसीब बच्चे सदा खुशी के झूले में झूलते ब्राह्मण जीवन में आनंद वा मनोरंजन का अनुभव करते हैं। यह खुशी का झूला सदा एकरस तब रहेगा जब याद और सेवा की दोनों रस्सियां टाइट हों। एक भी रस्सी ढीली होगी तो झूला हिलेगा और झूलने वाला गिरेगा इसलिए दोनों रस्सियां मजबूत हो तो मनोरंजन का अनुभव करते रहेंगे। सर्वशक्तिमान का साथ हो और खुशियों का झूला हो तो इस जैसी खुशनसीबी और क्या होगी।
स्लोगन:- सबके प्रति दया भाव और कृपा दृष्टि रखने वाले ही महान आत्मा हैं।
Font Resize