20 october ki murli

TODAY MURLI 20 OCTOBER 2020 DAILY MURLI (English)

20/10/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are a spiritualincognito salvation army. You have to salvage the whole world and take the sinking boats across.
Question: Which university that doesn’t exist throughout the whole cycle does the Father open at the confluence age?
Answer: It is only at the confluence age that the Father opens the Godfatherly University and college for studying to attain a kingdom. Such a university is not opened throughout the whole cycle. By studying in this university you become the double-crowned kings of kings.

Om shanti. Baba first of all asks you sweetest, spiritual children: When you come and sit here, do you consider yourselves to be souls and remember the Father because you don’t have any business to do or any friends or relatives etc. here? You come here with the thought that you are going to meet the unlimited Father. Who says this? This soul speaks through a body. The parlokik Father has taken this body on loan and is explaining through it. Only once does the unlimited Father come and teach you to consider yourselves to be souls and to remember the Father so that your boats will go across. Everyone’s boat is sinking. To the extent that you make effort, so your boat will accordingly go across. It is said: O Boatman, take my boat across. In fact, each one has to go across by making effort for himself. Once you have learnt how to swim, you swim by yourself. Those are physical aspects. This here is a spiritual aspect. You know that souls are now trapped in a dirty swamp. There is the example of a deer. It went forward thinking that there was water ahead, but there was nothing but a swamp there and it became trapped in that. Sometimes, even steamers and cars etc. become stuck in mud. They then have to be salvaged. That is the Salvation Army; you are the spiritual army. You know that everyone is completely stuck in Maya’s swamp. This is called Maya’s swamp. The Father comes and explains how you can you be removed from that. He salvages you. There, one person would need the help of another person. Here, souls are trapped in the swamp. The Father shows you the way to get out of it. You can then also show this path to others. Each of you yourself, has to see how to take your boat across the ocean of poison to the ocean of milk and then show others this path. The golden age is called the ocean of milk, which means the ocean of happiness. Here, this is the ocean of sorrow. Ravan drowns you in the ocean of sorrow. The Father comes and takes you to the ocean of happiness. You are also called the spiritual salvation army. You show everyone the path according to shrimat. You explain to everyone about the two fathers; one is a physical father and the other is the unlimited Father. Even though everyone has a physical father, they remember the parlokik Father. However, no one knows Him at all. Baba is not defaming anyone but is explaining the secrets of the drama. It is only in order to explain this that He says: At this time, all human beings are completely trapped in the quicksand of the five vices. Therefore, they belong to the devilish community. Those who belong to the devilish community bow down to those who belong to the divine community, because the divine community is completely viceless. People also bow down to the sannyasis who leave their homes and families and remain pure. However, there is the difference of day and night between sannyasis and deities. Deities take birth through the power of yoga. No one knows these things at all. Everyone says: God’s ways and means are completely unique. No one can attain the depths of God. By saying “Ishwar” or “God”, you don’t experience that much love. The best word of all is “Father”. Human beings don’t know the unlimited Father at all; it is as though they are orphans. A magazine has been produced that tells what human beings say and what God says. The Father is not insulting anyone; He is explaining to the children because He knows about everyone. In order to explain, He says: This one has devilish traits. They continue to fight among themselves. There is no need to fight here. That is the Kauravas’ community, that is, the devilish community. This is the divine community. The Father explains: It is impossible for human beings to teach human beings Raj Yoga for them to attain liberation or liberation-in-life. It is only at this time that the Father comes and teaches you souls. Look how much difference there is between those who are body conscious and those who are soul conscious. You have been falling due to body consciousness. The Father only comes once and makes you soul conscious. It isn’t that you won’t have any bodily relationships in the golden age. There, you don’t have the knowledge that you are a child of the Supreme Father, the Supreme Soul. It is only at this time that you receive this knowledge. This knowledge then disappears. You follow shrimat and receive the reward through that. The Father comes in order to teach you Raj Yoga. There is no other study like this one. The double-crowned kings existed in the golden age. There are also the kingdoms of those with single crowns. Even those kingdoms don’t exist now; it is the rule of people by people. You children are studying in this Godfatherly University for a kingdom. Your name is written on the outside. Although those people also write the name “Gita Pathshala”, who teaches them? They simply say that those versions were spoken by God Shri Krishna. However, Krishna cannot teach anyone. Krishna himself used to go to a school to study. What school do princes and princesses go to? The language there is completely different. It isn’t that he spoke the Gita in the Sanskrit language. Here, there are many languages. Every king adopts his own language. The Sanskrit language is not the language of kings. Baba doesn’t teach Sanskrit; the Father teaches Raj Yoga for the golden age. The Father says: Lust is the greatest enemy; you have to conquer it. He makes you promise to do this. Everyone who comes here is made to promise this. By conquering lust, you become the conquerors of the world. This is the main vice. This violence has continued from the copper age, since the path of sin began. There is also a temple showing how the deities fell onto the path of sin. They have created many dirty idols there, but those deities have no date or time showing when they went onto the path of sin. It is proved that they became ugly by sitting on the pyre of lust. Their names and forms changed. By sitting on the pyre of lust, they became ironaged. Even the five elements are now tamopradhan. This is why the bodies that are created here are also tamopradhan. From their moment of birth, they all have different forms. There, everyone’s body is absolutely beautiful. Because everything is now tamopradhan, bodies are also like that. People remember God by various names such as “Ishwar” and “Prabhu” etc. However, those poor things don’t know anything. Souls remember their Father, and say: O Baba, come and give me peace. Here, you are playing your parts through physical organs. Therefore, how can you experience peace here? There used to be peace in the world when it was the kingdom of Lakshmi and Narayan. However, since it has been said that the duration of the cycle is hundreds of thousands of years, how would poor human beings be able to understand? When it was the kingdom of deities, there was just one kingdom and one religion. For no other land is it said that there is one kingdom and one religion. Here, souls ask for one kingdom. You souls know that we are now establishing that one kingdom. There, we will be the masters of the whole world. The Father has given us everything. No one will be able to snatch that kingdom away from us. We become the masters of the whole world. The subtle region and the incorporeal world are not part of this physical world. This world cycle only turns here. Only the Father, the Creator, knows this. It isn’t that He creates creation. The Father comes at the confluence age to make the old world into the new world again. Baba has come from the faraway land. You know that the new world is being created for you. Baba is decorating us souls. Along with that, your bodies too will be decorated. When you souls become pure, you receive satopradhan bodies. Bodies will be created with satopradhan elements. They have satopradhan bodies, do they not? They remain naturally beautiful. It is said: “Religion is might.” Where did they receive might from? It is only through the religion of the deities that you receive might. Only the deities become the masters of the whole world; no one else becomes a master of the world. You receive so much might. It is written that Shiv Baba establishes the original, eternal, deity religion through Brahma. No one else in the world knows these things. The Father says: I establish the Brahmin clan and then take them into the sun dynasty. Those who study well will pass and go into the sun dynasty. Everything is a matter of knowledge. Those people have portrayed a physical bow and arrow and weapons etc. They learn how to shoot a bow and arrow. They also teach little children how to fire guns. Yours is the arrow of yoga. The Father says: Constantly remember Me and your sins will be absolved. There is no question of violence. Your study is incognito. You are a spiritual salvation army. No one knows what this spiritual army is. You are an incognito, spiritual salvation army; you salvage the whole world. Everyone’s boat is sinking. However, there is no such thing as Golden Lanka. It isn’t that Golden Dwaraka went below and will emerge again; no. There used to be their kingdom in Dwaraka, but that refers to the golden age. The dress of the golden-aged kings is different from that of the silver-aged kings. There is different dress and different customs and systems. Each king’s customs and systems are different. As soon as the name “Golden Age” is mentioned, the heart becomes happy. Human beings speak of Heaven and Paradise, but they still don’t know anything. The main thing is this Dilwala Temple. It is your identical memorial. Models are always small. This is an absolutely accurate model. There is Shiv Baba and Adi Dev and on the ceiling above, Paradise is portrayed. Since they show Shiv Baba, there would also be His chariot there. Adi Dev is sitting there. No one else understands that this is Shiv Baba’s chariot. It is Mahavir who attains the kingdom. It is now that you understand how souls receive strength. Repeatedly consider yourselves to be souls. When I, this soul, was satopradhan, I was pure. In the land of peace and the land of happiness, souls definitely remain pure. All of this now enters your intellects. This is such an easy aspect. Bharat was pure in the golden age. Impure souls cannot exist there. How can all of these impure souls return home? They definitely have to become pure before they can return home. When the world is set ablaze, all souls will return home. Their bodies will remain here. There are all these symbols. No one understands the meaning of Holika. The whole world is to be sacrificed into that fire. This is the sacrificial fire of knowledge. They have removed the word “knowledge” and called it the sacrificial fire of Rudra. In fact, this is the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. This is created by you Brahmins. You are the true Brahmins. You are all the children of Prajapita Brahma. The human world is created through Brahma. Brahma is called the greatgreatgrandfather. There is his genealogical tree. They keep a genealogical tree showing all the different generations. It is in your intellects that there is a systematic genealogical tree of souls in the incorporeal world. There is Shiv Baba, then Brahma, Vishnu and Shankar and then Lakshmi and Narayan etc. This is the genealogical tree of human beings. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become the spiritual salvation army and show yourselves and others this right path. In order to salvage the whole world from the ocean of poison, become the Father’s complete helpers.
  2. Become pure through knowledge and yoga and decorate the soul, not the body. When souls become pure, their bodies are automatically decorated.
Blessing: May you become doublelight and experience the subtle region keeping your mind and intellect free from the dictates of your mind.
Simply keep your power of thought, that is, your mind and intellect constantly free from the dictates of your mind. Then although you are here, you will clearly experience the scenes and scenery of the subtle region just like you clearly see the scenes of this world. Do not burden yourself to experience this. Give all your burdens to the Father and become doublelight. Your mind and intellect must always eat the food of pure thoughts and never eat the impure food of wasteful or sinful thoughts. You will then remain light of any burden and be able to experience a high stage.
Slogan: Put a full stop to waste and make your stock of good wishes full.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 20 OCTOBER 2020 : AAJ KI MURLI

20-10-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
मीठे बच्चे – “तुम हो स्प्रीचुअल, रूहानी इनकागनीटो सैलवेशन आर्मी, तुम्हें सारी दुनिया को सैलवेज करना है, डूबे हुए बेडे को पार लगाना है”
प्रश्नः- संगम पर बाप कौन-सी युनिवर्सिटी खोलते हैं जो सारे कल्प में नहीं होती?
उत्तर:- राजाई प्राप्त करने के लिए पढ़ने की गॉड फादरली युनिवर्सिटी वा कॉलेज संगम पर बाप ही खोलते हैं। ऐसी युनिवर्सिटी सारे कल्प में नहीं होती। इस युनिवर्सिटी में पढ़ाई पढ़कर तुम डबल सिरताज राजाओं का राजा बनते हो।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चों से पहले-पहले बाबा पूछते हैं यहाँ आकर जब बैठते हो तो अपने को आत्मा समझ बाप को याद करते हो? क्योंकि यहाँ तुमको कोई धंधाधोरी, मित्र-सम्बन्धी आदि भी नहीं हैं। तुम यह विचार करके आते हो कि हम बेहद के बाप से मिलने जाते हैं। कौन कहते हैं? आत्मा शरीर द्वारा बोलती है। पारलौकिक बाप ने यह शरीर उधार पर लिया है, इनसे समझाते हैं। यह एक ही बार होता है जो बेहद का बाप आकर सिखलाते हैं। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करने से तुम्हारा बेडा पार होगा। हर एक का बेडा डूबा हुआ है, जो जितना पुरूषार्थ करेंगे उतना बेडा पार होगा। गाते हैं ना – हे मांझी बेड़ी (नैया) मेरी पार लगाओ। वास्तव में हर एक को अपने पुरूषार्थ से पार जाना है। जैसे तैरना सिखलाते हैं फिर सीख जाते हैं तो आपेही तैरते हैं। वह सब हैं जिस्मानी बातें। यह हैं रूहानी बातें। तुम जानते हो आत्मा अभी कीचड़ के दुबन में फँस गई है। इस पर हिरण का भी मिसाल देते हैं। पानी समझ जाते हैं, परन्तु वह होती है कीचड़, तो उसमें फँस पड़ते हैं। कभी-कभी स्टीमर्स, मोटरें आदि भी कीचड़ में फँस पड़ती हैं। फिर उनको सैलवेज करते हैं। वह सब हैं सैलवेशन आर्मी। तुम हो रूहानी। तुम जानते हो सब माया के दुबन में बहुत फँसे हुए हैं, इनको माया का दुबन कहा जाता है। बाप आकर समझाते हैं – इनसे तुम कैसे निकल सकते हो। वह सैलवेज करते हैं, उसमें मदद चाहिए आदमी को आदमी की। यहाँ तो फिर आत्मा जाकर दुबन में फँसी है। बाप रास्ता बताते हैं इनसे तुम कैसे निकल सकते हो। फिर दूसरों को भी रास्ता बता सकते हो। अपने को और दूसरों को रास्ता बताना है कि तुम्हारी नईया इस विषय सागर से क्षीरसागर में कैसे जाये। सतयुग को कहते हैं क्षीरसागर अर्थात् सुख का सागर। यह है दु:ख का सागर। रावण दु:ख के सागर में डुबोते हैं। बाप आकर सुख के सागर में ले जाते हैं। तुमको रूहानी सैलवेशन आर्मी कहा जाता है। तुम श्रीमत पर सबको रास्ता बताते हो। हर एक को समझाते हो – दो बाप हैं, एक हद का, दूसरा बेहद का। लौकिक बाप होते हुए भी सब पारलौकिक बाप को याद करते हैं परन्तु उनको जानते बिल्कुल नहीं हैं। बाबा कोई ग्लानि नहीं करते हैं परन्तु ड्रामा का राज़ समझाते हैं। यह भी समझाने के लिए ही कहते हैं कि इस समय सभी मनुष्य मात्र 5 विकारों रूपी दलदल में फँसे हुए आसुरी सम्प्रदाय हैं। दैवी सम्प्रदाय को आसुरी सम्प्रदाय जाकर नमन करते हैं क्योंकि वह सम्पूर्ण निर्विकारी हैं। संन्यासियों को नमन करते हैं वह भी घरबार छोड़कर जाते हैं। पवित्र रहते हैं। इन संन्यासियों और देवताओं में रात-दिन का फ़र्क है। देवताओं का तो जन्म भी योगबल से होता है। इन बातों को कोई जानते नहीं। सब कहते हैं ईश्वर की गति मत न्यारी, ईश्वर का अन्त नहीं पा सकते। सिर्फ ईश्वर वा भगवान कहने से इतना लव नहीं आता है। सबसे अच्छा अक्षर है बाप। मनुष्य बेहद के बाप को नहीं जानते तो जैसे आरफन हैं।

मैगजीन में भी निकाला है, मनुष्य क्या कहते और भगवान क्या कहते हैं। बाप कोई गाली नहीं देते हैं, बच्चों को समझाते हैं क्योंकि बाप तो सबको जानते हैं ना। समझाने लिए कहते हैं – इनमें आसुरी गुण हैं, आपस में लड़ते रहते हैं। यहाँ तो लड़ने की दरकार नहीं है। वह हैं कौरव अर्थात् आसुरी सम्प्रदाय। यह हैं दैवी सम्प्रदाय। बाप समझाते हैं – मनुष्य, मनुष्य को मुक्ति वा जीवनमुक्ति के लिए राजयोग सिखलायें यह हो नहीं सकता। इस समय बाप ही तुम आत्माओं को सिखला रहे हैं। देह-अभिमान, देही-अभिमानी में फर्क देखो कितना है। देह-अभिमान से तुम गिरते आये हो। बाप एक ही बार आकर तुमको देही-अभिमानी बनाते हैं। ऐसे नहीं कि तुम सतयुग में देह से सम्बन्ध नहीं रखेंगे। वहाँ यह ज्ञान नहीं रहता कि मैं आत्मा परमपिता परमात्मा की सन्तान हूँ। यह ज्ञान अभी ही तुमको मिलता है जो प्राय: लोप हो जाता है। तुम ही श्रीमत पर चल प्रालब्ध पाते हो। बाप आते ही हैं राजयोग सिखलाने। ऐसी पढ़ाई और कोई होती नहीं। डबल सिरताज राजायें सतयुग में होते हैं। फिर सिंगल ताज वालों की राजाई भी है, अभी वह राजाई नहीं रही है, प्रजा का प्रजा पर राज्य है। तुम बच्चे अभी राजाई के लिए पढ़ते हो, इसको गॉड फादरली युनिवर्सिटी कहा जाता है। तुम्हारा नाम भी लिखा हुआ है। वो लोग भल नाम रखते हैं गीता पाठशाला। पढ़ाते कौन हैं? श्रीकृष्ण भगवानुवाच कह देंगे। अब कृष्ण तो पढ़ा न सकें। कृष्ण तो खुद पा”शाला में पढ़ने जाते हैं। प्रिन्स-प्रिन्सेज कैसे स्कूल में जाते हैं, वहाँ की भाषा ही दूसरी है। ऐसे भी नहीं कि संस्कृत में गीता गाई है। यहाँ तो अनेक भाषायें हैं। जो जैसा राजा होता है वह अपनी भाषा चलाते हैं। संस्कृत भाषा कोई राजाओं की नहीं है। बाबा कोई संस्कृत नहीं सिखलाते हैं। बाप तो राजयोग सिखलाते हैं, सतयुग के लिए।

बाप कहते हैं काम महाशत्रु है, इन पर जीत पहनो। प्रतिज्ञा कराते हैं, यहाँ जो भी आते हैं उनसे प्रतिज्ञा कराई जाती है। काम पर जीत पाने से तुम जगतजीत बनेंगे। यह है मुख्य विकार। यह हिंसा द्वापर से चली आती है, जिससे वाम मार्ग शुरू हुआ। देवतायें कैसे वाम मार्ग में जाते हैं, उनका भी मन्दिर है। वहाँ बहुत छी-छी चित्र बनाये हैं। बाकी वाम मार्ग में कब गये, उसकी तिथि-तारीख तो है नहीं। सिद्ध होता है काम चिता पर बैठने से काले बनते हैं परन्तु नाम-रूप तो बदल जाता है ना। काम चिता पर चढ़ने से आइरन एजड बन पड़ते हैं। अभी तो 5 तत्व भी तमोप्रधान हैं ना, इसलिए शरीर भी ऐसे तमोप्रधान बनते हैं। जन्म से ही कोई कैसे, कोई कैसे हो पड़ते हैं। वहाँ तो एकदम सुन्दर शरीर होते हैं। अभी तमोप्रधान होने के कारण शरीर भी ऐसे हैं। मनुष्य ईश्वर प्रभू आदि भिन्न-भिन्न नामों से याद करते हैं परन्तु उन बिचारों को पता ही नहीं है। आत्मा अपने बाप को याद करती है – हे बाबा, आकर शान्ति दो। यहाँ तो कर्मेन्द्रियों से पार्ट बजा रहे हैं तो शान्ति कैसे मिलेगी। विश्व में शान्ति थी जबकि इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। परन्तु लाखों वर्ष कल्प की आयु कह दी है तो मनुष्य बिचारे कैसे समझेंगे। जब इनका (देवताओं का) राज्य था तो एक राज्य एक धर्म था और कोई खण्ड में ऐसे नहीं कहते कि एक धर्म एक राज्य हो। यहाँ आत्मा मांगती है एक राज्य हो। तुम्हारी आत्मा जानती है अब हम एक राज्य स्थापन कर रहे हैं। वहाँ सारे विश्व के मालिक हम रहेंगे। बाप हमको सब कुछ दे देते हैं। कोई भी हमसे राजाई छीन नहीं सकते। हम सारे विश्व के मालिक बन जाते हैं। विश्व में कोई सूक्ष्मवतन, मूलवतन नहीं आता है। यह सृष्टि का चक्र यहाँ ही फिरता रहता है। इसको बाप, जो रचयिता है वही जानते हैं। ऐसे नहीं कि रचना रचते हैं। बाप आते ही हैं संगम पर, पुरानी दुनिया से नई दुनिया बनाने। दूरदेश से बाबा आया हुआ है, तुम जानते हो नई दुनिया हमारे लिए बन रही है। बाबा हम आत्माओं का श्रृंगार कर रहे हैं। उनके साथ फिर शरीरों का भी श्रृंगार हो जायेगा। आत्मा पवित्र होने से फिर शरीर भी सतोप्रधान मिलेंगे। सतोप्रधान तत्वों से शरीर बनेंगे। इन्हों का सतोप्रधान शरीर है ना इसलिए नेचरल ब्युटी रहती है। गाया भी जाता है रिलीजन इज़ माइट। अब माइट मिली कहाँ से? एक ही देवी-देवताओं का रिलीजन है जिससे माइट मिलती है। यह देवतायें ही सारे विश्व के मालिक बनते हैं और कोई विश्व के मालिक नहीं बनते हैं। तुमको कितनी माइट मिलती है। लिखा हुआ भी है आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना शिवबाबा ब्रह्मा द्वारा करते हैं। यह बातें दुनिया में कोई जानते थोड़ेही हैं। बाप कहते हैं मैं ब्राह्मण कुल स्थापन करता हूँ फिर उन्हों को सूर्यवंशी डिनायस्टी में ले आता हूँ। जो अच्छी रीति पढ़ते है वह पास हो सूर्यवंशी में आते हैं। है सारी ज्ञान की बात। उन्होंने फिर स्थूल बाण हथियार आदि दिखाये हैं। बाण चलाना भी सीखते हैं। छोटे बच्चों को भी बन्दूक चलाना सिखाते हैं। तुम्हारा फिर है योग बाण। बाप कहते हैं मामेकम् याद करोगे तो तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। हिंसा की कोई बात नहीं है। तुम्हारी पढ़ाई भी है गुप्त। तुम हो स्प्रीचुअल, रूहानी सैलवेशन आर्मी। यह कोई को मालूम नहीं है कि रूहानी आर्मी कैसे होती है। तुम हो इनकागनीटो, स्प्रीचुअल रूहानी सैलवेशन आर्मी। सारी दुनिया को तुम सैलवेज करते हो। सबका बेडा डूबा हुआ है। बाकी सोने की लंका कोई है नहीं। ऐसे नहीं कि सोनी द्वारिका नीचे चली गई है, वह निकल आयेगी। नहीं, द्वारिका में भी इनका राज्य था परन्तु सतयुग में था। सतयुगी राजाओं की ड्रेस ही अलग होती है, त्रेता की अलग। भिन्न-भिन्न ड्रेस, भिन्न-भिन्न रसम रिवाज होती है। हर एक राजा की रसम-रिवाज अपनी-अपनी, सतयुग का तो नाम लेते ही दिल खुश हो जाती है। कहते ही हैं स्वर्ग, पैराडाइज़ परन्तु मनुष्य कुछ भी जानते नहीं। मुख्य तो है यह देलवाड़ा मन्दिर। हूबहू तुम्हारा यादगार है। मॉडल्स तो हमेशा छोटा बनाते हैं ना। यह बिल्कुल एक्यूरेट मॉडल्स हैं। शिवबाबा भी है, आदि देव भी है, ऊपर में बैकुण्ठ दिखाया है। शिव-बाबा होगा तो जरूर रथ भी होगा। आदि देव बैठा है, यह भी किसको पता नहीं है। यह शिवबाबा का रथ है। महावीर ही राजाई प्राप्त करते हैं। आत्मा में ताकत कैसे आती है, यह भी तुम अभी समझते हो। घड़ी-घड़ी अपने को आत्मा समझो। हम आत्मा सतोप्रधान थी तो पवित्र थी। शान्तिधाम, सुखधाम में जरूर पवित्र ही रहेंगे। अब बुद्धि में आता है, कितनी सहज बात है। भारत सतयुग में पवित्र था। वहाँ अपवित्र आत्मा रह न सके। इतनी सब पतित आत्मायें ऊपर कैसे जायेंगी। जरूर पवित्र बनकर ही जायेंगी। आग लगती है फिर सभी आत्मायें चली जायेंगी। बाकी शरीर रह जाते हैं। यह सब निशानियाँ भी हैं। होलिका का अर्थ कोई समझते थोड़ेही हैं। सारी दुनिया इसमें स्वाहा होनी है। यह ज्ञान यज्ञ है। ज्ञान अक्षर निकाल बाकी रूद्र यज्ञ कह देते हैं। वास्तव में यह है रूद्र ज्ञान यज्ञ। यह ब्राह्मणों द्वारा ही रचा जाता है। सच्चे-सच्चे ब्राह्मण तुम हो। प्रजापिता ब्रह्मा की तो सब औलाद हैं ना। ब्रह्मा द्वारा ही मनुष्य सृष्टि रची जाती है। ब्रह्मा को ही ग्रेट-ग्रेट ग्रैन्ड फादर कहा जाता है, इनका सिजरा होता है ना। जैसे अलग-अलग बिरादरी का सिजरा रखते हैं। तुम्हारी बुद्धि में है कि मूलवतन में है आत्माओं का सिजरा, कायदेमुज़ीब। शिवबाबा फिर ब्रह्मा-विष्णु-शंकर, फिर लक्ष्मी-नारायण आदि ये सब हैं मनुष्यों के सिज़रे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) रूहानी सैलवेशन आर्मी बन स्वयं को और सर्व को सही रास्ता बताना है। सारी दुनिया को विषय सागर से सैलवेज़ करने के लिए बाप का पूरा-पूरा मददगार बनना है।

2) ज्ञान-योग से पवित्र बन आत्मा का श्रृंगार करना है, शरीरों का नहीं। आत्मा के पवित्र बनने से शरीर का श्रृंगार स्वत: हो जायेगा।

वरदान:- मन-बुद्धि को मनमत से फ्री कर सूक्ष्मवतन का अनुभव करने वाले डबल लाइट भव
सिर्फ संकल्प शक्ति अर्थात् मन और बुद्धि को सदा मनमत से खाली रखो तो यहाँ रहते भी वतन की सभी सीन-सीनरियां ऐसे स्पष्ट अनुभव करेंगे जैसे दुनिया की कोई भी सीन स्पष्ट दिखाई देती है। इस अनुभूति के लिए कोई भी बोझ अपने ऊपर नहीं रखो, सब बोझ बाप को देकर डबल लाइट बनो। मन-बुद्धि से सदा शुद्ध संकल्प का भोजन करो। कभी भी व्यर्थ संकल्प व विकल्प का अशुद्ध भोजन न करो तो बोझ से हल्के होकर ऊंची स्थिति का अनुभव कर सकेंगे।
स्लोगन:- व्यर्थ को फुल स्टॉप दो और शुभ भावना का स्टॉक फुल करो।

TODAY MURLI 20 OCTOBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 20 October 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 19 October 2019:- Click Here

20/10/19
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
24/02/85

The confluence age is the age of all elevated attainments.

Today, BapDada was looking at all the special souls everywhere who are embodiments of attainment. On the one side are the many souls who have temporary attainment, that is, those who have attainment as well as some lack of attainment; today they have attainment and tomorrow a lack of attainment. So, on the one side are embodiments of innumerable attainments and a lack of attainment. On the other side are you very few special souls who are embodiments of attainments for all time. Baba saw the great difference between the two. BapDada was pleased to see the children who are embodiments of attainment. You children, who are the embodiments of attainment, are so multimillion times fortunate. You special souls have had so much attainment that your every step brings you multimillions. In worldly life, in a life of being an embodiment of all attainments, the attainments of four special things are essential. 1) Relationships that give happiness. 2) Nature and sanskars that are always cool and loving. 3) Elevated wealth of a true income. 4) Elevated acts and elevated contacts//connections. If you have the attainment of these four things, there is success and happiness in your worldly life too. However, the attainments of a worldly life are attainments for a temporary period. Today, relationships are such that they give happiness whereas tomorrow, those same relationships will be such that they cause sorrow. Today, there is success and tomorrow, there isn’t. In contrast, you elevated souls who are embodiments of attainment constantly have all these four attainments in this elevated, alokik life, because you have an imperishable relationship directly with the Bestower of Happiness, the Bestower of all Attainments. This relationship is one that will never cause you sorrow or deceive you. In perishable relationships, at present, there is sorrow or deception. In the imperishable relationship, there is true love and happiness. So, you constantly have love and all relationships of happiness with the Father; not a single relationship is missing. You can experience attainment through any relationship you want. Whatever relationship a soul finds lovely, God fulfils the responsibility of love through that relationship. You have made God the One with whom you have all relationships. At no other time throughout the whole cycle can such an elevated relationship be attained. So, you have also attained the relationship. Together with that, because you always have an elevated nature and Godly sanskars in your alokik, divine life, your nature and sanskars never cause anyone sorrow. Whatever are the sanskars of BapDada are the sanskars of you children. The nature of BapDada is the nature of the children. “Swa-bhav” (feelings of the self, one’s nature) means always to have soul-conscious feelings towards everyone. “Swa” also means elevated. The feeling of the self or elevated feelings is swabhav (nature). Constantly to be a great donor, merciful and a world benefactor, are the sanskars of the Father and so should also be your sanskars. This is why your nature and sanskars always give you the attainment of happiness. In the same way, you have the wealth of a true income that gives you happiness. So, how many imperishable treasures have you received? Each one of you is a master of the mines of treasures. You haven’t just received treasures, but you have received infinite, countless treasures which you can continue to increase by continuing to spend and use them. The more you spend them, the more they increase. You have experienced this, have you not? For what reason do you earn your physical wealth? So that you can eat dal and roti in happiness and that your family can be happy; so that you have a good name in the world. Look at yourselves: you are receiving dal and roti of such happiness and joy. It is remembered: Eat dal and roti and sing the praise of God. You are eating the dal and roti that is remembered in this way. You Brahmin children have BapDada’s guarantee that Brahmin children cannot be deprived of dal and roti. You may not get food in which there is some attraction, but you will definitely receive dal and roti. You have dal and roti, your family is OK and your names are glorified so much. Your names are glorified so much that, even though you have reached your last birth, many souls are accomplishing their work successfully through the names of your non-living images. They take the names of you deities and accomplish their work successfully. Your names are glorified to this extent. Your names are not glorified for just one birth, but your names are glorified for the whole cycle. So you are the ones who have the true wealth of happiness. By your being connected to the Father, a connection with you has also become elevated. A connection with you is so elevated that souls are thirsty for even a second’s connection with your non-living images. They are so thirsty simply to have a connection, a glimpse of you. They continue to stay awake throughout the whole night. They continue to call out for a connection, for even one second’s glimpse. They continue to cry out so much, and they tolerate so much just to be able to go in front of them. They are just images and such images are also in their homes, and yet they are so thirsty to have a personal connection with that particular image for even a second. Because you belong to the one unlimited Father, you are connected to souls of the whole world. You now belong to the unlimited family. You are now connected to all souls of the world. So you have attained all four things eternally. This is why you have a constantly happy life. You have lives of being embodiments of attainment. There is nothing lacking in the lives of Brahmins. This is your song, is it not? Are you such embodiments of attainment, or do you have to become that? So, as you were told, today, Baba was looking at the children who are embodiments of attainment. People of the world make so much effort for that elevated life, and what did you do? Did you make effort or did you simply have love? You made the Father belong to you out of your love for Him. So, people of the world make effort and you attained Him through your love for Him. You said “Baba” and you received the key to the treasures. What do people of the world say if you ask them? “It is very difficult to earn something. It is very difficult to live in this world.”, and what do you say? You earn multimillions at every step; it is so easy for you to move along in this life. Since you are in the flying stage, you have been saved from simply walking. You say, “Forget about walking, we have to fly!” There is so much difference. Today, BapDada was looking at all the children of the world. Everyone is totally busy in their love of attainment, but what is the result? They are all busy searching for something. Look at the scientists: they are so engrossed in their research that they can’t think of anything else. Look how the great souls are engaged in seeking God. Because of a small misconception, they are deprived of attainment. Because of the misconception of thinking each soul to be the Supreme Soul or thinking that God is omnipresent, they still remain seeking. They remained deprived of their attainment. Scientists too have become lost in their research, thinking that they have to go a little further, a little further and they will reach the moon, the stars and then create a world there. Look how the scholars of the scriptures have become lost in the web of finding a meaning to the scriptures. They have kept the aim of finding a meaning in the scriptures and have been deprived of the meaning. Look how political leaders lose themselves in running around after their seat of position. Look how non-gyani souls of the world have just sat down holding onto the support of a little glimpse of some perishable attainment, thinking it to be a true support. And, what did you do? They have become lost in all of that and you have attained everything. You have ended illusion. Therefore, you have become embodiments of attainment. Therefore, you are the elevated souls who are constant embodiments of attainment.

BapDada is especially congratulating the double foreigners because, out of all the souls of the world, the eye of recognition of you elevated souls remained powerful so that you recognised and attained Him. So, seeing the eye of recognition in the double-foreign children, BapDada is singing their praise: Wah children! Wah! Because, even whilst living in faraway lands, even whilst having different religions, whilst having different customs and systems, although you are far away, you have recognised your real Father closely. You have now come into a close relationship. You have now understood the customs and systems of Brahmin life to be your own customs and systems and have adopted them easily into your lives. This is known as being especially lovely and lucky children. Just as children have special happiness, so BapDada too has special happiness. Souls of the Brahmin family had gone into different corners of the world, but the elevated souls in every corner who had become separated have once again come to their family. The Father searched for you and you recognised Him and this is how you have claimed a right to your attainment. Achcha.

To the children who are embodiments of imperishable attainment, to the children who always have the experience of all relationships, to the children who always have imperishable wealth, to the children who have constantly elevated sanskars like the Father’s and who always maintain elevated feelings of the self, to those who are treasure-stores of all attainments and great donors of all attainments, BapDada’s love, remembrance and namaste.

Avyakt BapDada meeting the married couples:

While living in your households, you are free from all bondages and loving to the Father, are you not? You are not trapped, are you? You are not caged birds, are you? You are the flying birds, are you not? The slightest bondage can trap you. When you are free from bondage, you constantly continue to fly. So, you do not have any type of bondage: not of bodies, of relations, of the household or possessions. Not to have any bondage is said to be detached and loving. Those who are independent (free) would always be in the flying stage, whereas those who are dependent will fly a little and then their bondage will pull them down. So, they are sometimes down below and sometimes up above; their time will pass in this. Constantly to have a constant and stable flying stage and the stage of sometimes down below and sometimes up above – there is the difference of day and night between the two. Which stage do you have? Constantly free from bondage, and a constantly independent bird? One who always stays with the Father? You would not be attracted to any type of attraction. This is a lovely life. Those who are loving to the Father have a constantly lovely life. It would not be a life of conflict – today, this happened, yesterday that happened; no. However, you are those who always stay with the Father, ones who always stay in a constant and stable stage. This is a life of pleasure. If there isn’t pleasure, there would definitely be confusion. Today, there was this problem; yesterday there that was that problem. All of the things of the land of sorrow will definitely arise in the land of sorrow, but you are confluence-aged Brahmins and so all the sorrow will be left down below. You have stepped away from the land of sorrow and so, even if you can see sorrow, it will not touch you. You have left the iron age, you have left the shores and have now reached the confluence age, and the confluence is always shown as the highest. Confluence-aged souls are always the highest; they are not down below. Since the Father has come to make you fly, why should you come down from the flying stage? To come down means to get trapped. Now that you have received wings, continue to fly, do not come down at all. Achcha.

Speaking to Adhar (Half) Kumars:

All of you are those who remain absorbed in the love for the One, are you not? One Father and us and no third person. This is known as being absorbed in love. I and my Baba. Apart from this, do you have any other “mine”? My uncle, my grandchild…. It is not like that, is it? There is attachment in “mine”. To finish the consciousness of “mine” means to finish attachment. So all your attachment is to the Father. It has transformed, it has become pure attachment. The Father is always pure and so your attachment has changed to love. Only my one Baba – in this One, everything else is finished and the remembrance of One becomes easy. Therefore, you are constantly easy yogis. I am an elevated soul with my Baba, that is all! By considering yourself to be an elevated soul, you will automatically have elevated actions, and Maya cannot come in front of an elevated soul.

Speaking to Mothers:

You mothers constantly swing in the swing of happiness with the Father, do you not? Gopes and gopis constantly dance in happiness or swing in swings. Those who are always with the Father dance in happiness. When the Father is with you, all the powers are also with you. The Father’s company makes you powerful. Those who have the Father’s company are always free from attachment, they are not troubled by being attached to anyone. So, are you free from attachment? No matter what type of situations come, you are free from attachment in every situation. To the extent that you are free from attachment, to that extent you will continue to move forward in your remembrance and service.

Speaking to the Servers who have come to Madhuban:

You have accumulated in your account of service, have you not? Even now, in the atmosphere of Madhuban, you have received a chance to make your stage powerful, and you have also accumulated for the future, and so you have double the attainment. By serving the yagya, that is, by doing elevated service in an elevated stage, you accumulate multimillion-fold fruit. No matter what service you do, first of all check that you are stable in a powerful stage and are doing service as a server; not an ordinary server, but a spiritual server. Spiritual intoxication and spiritual sparkle must always have emerged in a spiritual server. While rolling chapattis, also continue to spin the discus of self-realisation. You might be carrying out your physical, worldly work, but let both the physical and subtle service also continue at the same time: do the physical work with your hands and do the subtle service with your mind and it will become double. Even while working with your hands, in one place, you can do a lot of service with the power of remembrance. In any case, Madhuban is a lighthouse. A lighthouse is in one place, but it serves everywhere around it. In this way, servers can create a lot of elevated reward for themselves and for others. Achcha. Om shanti.

Today, BapDada celebrated a meeting with the children throughout the whole night and gave love and remembrance at 7.00 am in the morning and bade them farewell. BapDada conducted an early morning class.

By listening to elevated versions from BapDada every morning, you have become great souls. So, with the music of the mind, listen to today’s essence throughout the day of how you have become great by listening to the elevated versions. You are always instruments to carry out the greatest task of all. You are the great donor souls for all souls through your thoughts, words and connections and you are the souls who always have a right to invoke the great age. Just remember this. To the elevated souls who always maintain this elevated awareness, to the specially beloved long-lost and now-found children, BapDada’s love, remembrance and good morning. Namaste from the Father to those who are to become emperors in the future and who are emperors at the present time. Achcha.

Blessing: May you be a true server who finishes all wasteful vibrations with the power of your pure and powerful thoughts.
It is said: Thoughts can create a world. When you have weak or wasteful thoughts, a world of an atmosphere of waste is created. A true server is one who finishes old vibrations with his pure and powerful thoughts. Just as science destroys weapons with weapons, they destroy one plane with another plane, in the same way, the vibrations of your pure and powerful thoughts will finish any atmosphere of waste. Now do such service.
Slogan: Become free from the subtle, golden threads of obstacles and celebrate the Year of Liberation.

 

*** Om Shanti ***

Special Notice:

Today is the third Sunday of the month and everyone will come together for the International Yoga from 6.30 pm – 7.30 pm. Staying in the awareness of the combined form, do the service of creating a powerful atmosphere with your subtle attitude.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 20 OCTOBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 20 October 2019

To Read Murli 19 October 2019:- Click Here
20-10-19
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 24-02-85 मधुबन

संगम युग – सर्व श्रेष्ठ प्राप्तियों का युग

आज बापदादा चारों ओर के प्राप्ति स्वरूप विशेष आत्माओं को देख रहे थे। एक तरफ अनेक आत्मायें अल्पकाल के प्राप्ति वाली हैं जिसमें प्राप्ति के साथ-साथ अप्राप्ति भी है। आज प्राप्ति है कल अप्राप्ति है। तो एक तरफ अनेक प्राप्ति सो अप्राप्ति स्वरूप। दूसरे तरफ बहुत थोड़े सदाकाल की प्राप्ति स्वरूप विशेष आत्मायें। दोनों के महान अन्तर को देख रहे थे। बापदादा प्राप्ति स्वरूप बच्चों को देख हर्षित हो रहे थे। प्राप्ति स्वरूप बच्चे कितने पदमापदम भाग्यवान हो। इतनी प्राप्ति कर ली जो आप विशेष आत्माओं के हर कदम में पदम हैं। लौकिक में प्राप्ति स्वरूप जीवन में विशेष चार बातों की प्राप्ति आवश्यक है। (1) सुखमय सम्बन्ध। (2) स्वभाव और संस्कार सदा शीतल और स्नेही हो। (3) सच्ची कमाई की श्रेष्ठ सम्पति हो। (4) श्रेष्ठ कर्म श्रेष्ठ सम्पर्क हो। अगर यह चारों ही बातें प्राप्त हैं तो लौकिक जीवन में भी सफलता और खुशी है। लेकिन लौकिक जीवन की प्राप्तियाँ अल्पकाल की प्राप्तियाँ हैं। आज सुखमय सम्बन्ध है कल वही सम्बन्ध दु:खमय बन जाता है। आज सफलता है कल नहीं है। इसके अन्तर में आप प्राप्ति स्वरूप श्रेष्ठ आत्माओं को इस अलौकिक श्रेष्ठ जीवन में चारों ही बातें सदा प्राप्त हैं क्योंकि डायरेक्ट सुखदाता सर्व प्राप्तियों के दाता के साथ अवि-नाशी सम्बन्ध है। जो अविनाशी सम्बन्ध कभी भी दु:ख वा धोखा देने वाला नहीं है। विनाशी सम्बन्धों में वर्तमान समय दु:ख है वा धोखा है। अविनाशी सम्बन्ध में सच्चा स्नेह है। सुख है। तो सदा स्नेह और सुख के सर्व सम्बन्ध बाप से प्राप्त हैं। एक भी सम्बन्ध की कमी नहीं है। जो सम्बन्ध चाहो उसी सम्बन्ध से प्राप्ति का अनुभव कर लो। जिस आत्मा को जो सम्बन्ध प्यारा है उसी सम्बन्ध से भगवन प्रीत की रीति निभा रहे हैं। भगवान को सर्व सम्बन्धी बना लिया। ऐसा श्रेष्ठ सम्बन्ध सारे कल्प में प्राप्त नहीं हो सकता। तो सम्बन्ध भी प्राप्त है। साथ-साथ इस अलौकिक दिव्य जन्म में सदा श्रेष्ठ स्वभाव, ईश्वरीय संस्कार होने कारण स्वभाव संस्कार कभी दु:ख नहीं देते। जो बापदादा के संस्कार वह बच्चों के संस्कार, जो बापदादा का स्वभाव वह बच्चों का स्वभाव। स्व-भाव अर्थात् सदा हर एक के प्रति स्व अर्थात् आत्मा का भाव। स्व श्रेष्ठ को भी कहा जाता है। स्व का भाव वा श्रेष्ठ भाव यही स्वभाव हो। सदा महादानी, रहम-दिल, विश्व कल्याणकारी यह बाप के संस्कार सो आपके संस्कार हों इसलिए स्वभाव और संस्कार सदा खुशी की प्राप्ति कराते हैं। ऐसे ही सच्ची कमाई की सुखमय सम्पति है। तो अविनाशी खजाने कितने मिले हैं? हर एक खजाने की खानियों के मालिक हो। सिर्फ खजाना नहीं, अखुट अनगिनत खजाने मिले हैं। जो खर्चो खाओ और बढ़ाते रहो। जितना खर्च करो उतना बढ़ता है। अनुभवी हो ना। स्थूल सम्पति किस-लिए कमाते हैं? दाल रोटी सुख से खावें। परिवार सुखी हो। दुनिया में नाम अच्छा हो! आप अपने को देखो कितने सुख और खुशी की दाल रोटी मिल रही है। जो गायन भी है दाल रोटी खाओ भगवान के गीत गाओ। ऐसे गायन की हुई दाल रोटी खा रहे हो। और ब्राह्मण बच्चों को बापदादा की गैरन्टी है-ब्राह्मण बच्चा दाल रोटी से वंचित हो नहीं सकता। आसक्ति वाला खाना नहीं मिलेगा लेकिन दाल रोटी जरूर मिलेगी। दाल रोटी भी है, परिवार भी ठीक है और नाम कितना बाला है। इतना आपका नाम बाला है जो आज लास्ट जन्म तक आप पहुँच गये हो, लेकिन आपके जड़ चित्रों के नाम से अनेक आत्मायें अपना काम सिद्ध कर रही हैं। नाम आप देवी देवताओं का लेते हैं। काम अपना सिद्ध करते हैं। इतना नाम बाला है। एक जन्म नाम बाला नहीं होता सारा कल्प आपका नाम बाला है। तो सुखमय, सच्चे सम्पतिवान हो। बाप के सम्पर्क में आने से आपका भी श्रेष्ठ सम्पर्क बन गया है। आपका ऐसा श्रेष्ठ सम्पर्क है जो आपके जड़ चित्रों के सेकण्ड के सम्पर्क की भी प्यासी हैं। सिर्फ दर्शन के सम्पर्क के भी कितने प्यासे हैं! सारी-सारी रातें जागरण करते रहते हैं। सिर्फ सेकण्ड के दर्शन के सम्पर्क के लिए पुकारते रहते हैं। चिल्लाते रहते वा सिर्फ सामने जावें उसके लिए कितना सहन करते हैं! हैं चित्र और ऐसे चित्र घर में भी होते हैं फिर भी एक सेकण्ड के सम्मुख सम्पर्क के लिए कितने प्यासे हैं। एक बेहद के बाप के बनने के कारण सारे विश्व की आत्माओं से सम्पर्क हो गया। बेहद के परिवार के हो गये। विश्व की सर्व आत्माओं से सम्पर्क बन गया। तो चारों ही बातें अविनाशी प्राप्त हैं इसलिए सदा सुखी जीवन है। प्राप्ति स्वरूप जीवन है। अप्राप्त नहीं कोई वस्तु ब्राह्मणों के जीवन में। यही आपके गीत हैं। ऐसे प्राप्ति स्वरूप हो ना वा बनना है? तो सुनाया ना आज प्राप्ति स्वरूप बच्चों को देख रहे थे। जिस श्रेष्ठ जीवन के लिए दुनिया वाले कितनी मेहनत करते हैं। और आपने क्या किया? मेहनत की वा मुहब्बत की? प्यार-प्यार में ही बाप को अपना बना लिया। तो दुनिया वाले मेहनत करते हैं और आपने मुहब्बत से पा लिया। बाबा कहा और खजानों की चाबी मिली। दुनिया वालों से पूछो तो क्या कहेंगे? कमाना बड़ा मुश्किल है। इस दुनिया में चलना बड़ा मुश्किल है और आप क्या कहते हो? कदम में पदम कमाना है। और चलना कितना सहज है! उड़ती कला है तो चलने से भी बच गये। आप कहेंगे चलना क्या उड़ना है। कितना अन्तर हो गया! बापदादा आज विश्व के सभी बच्चों को देख रहे थे। सभी अपनी-अपनी प्राप्ति की लगन में लगे हुए हैं लेकिन रिजल्ट क्या है! सब खोज करने में लगे हुए हैं। साइन्स वाले देखो अपनी खोज में इतने व्यस्त हैं जो और कुछ नहीं सूझता। महान आत्मायें देखो प्रभू को पाने की खोज में लगी हुई हैं। वा छोटी सी भ्रान्ति के कारण प्राप्ति से वंचित हैं। आत्मा ही परमात्मा है वा सर्वव्यापी परमात्मा है इस भ्रान्ति के कारण खोज में ही रह गये। प्राप्ति से वंचित रह गये हैं। साइन्स वाले भी अभी और आगे है और आगे है, ऐसा करते-करते चन्द्रमा में, सितारों में दुनिया बनायेंगे, खोजते-खोजते खो गये हैं। शास्त्रवादी देखो शास्त्रार्थ के चक्कर में विस्तार में खो गये हैं। शास्त्रार्थ का लक्ष्य रख अर्थ से वंचित हो गये हैं। राजनेतायें देखो कुर्सी की भाग दौड़ में खोये हुए हैं। और दुनिया के अन्जान आत्मायें देखो विनाशी प्राप्ति के तिनके के सहारे को असली सहारा समझ बैठ गई हैं। और आपने क्या किया? वह खोये हुए हैं और आपने पा लिया। भ्रान्ति को मिटा लिया। तो प्राप्ति स्वरूप हो गये इसलिए सदा प्राप्ति स्वरूप श्रेष्ठ आत्मायें हो।

बापदादा विशेष डबल विदेशी बच्चों को मुबारक देते हैं कि विश्व में अनेक आत्माओं के बीच आप श्रेष्ठ आत्माओं की पहचान का नेत्र शक्तिशाली रहा। जो पहचाना और पाया। तो बापदादा डबल विदेशी बच्चों की पहचान के नेत्र को देख बच्चों के गुण गा रहे हैं कि वाह बच्चे वाह। जो दूरदेशी होते, भिन्न धर्म के होते, भिन्न रीति रसम के होते अपने असली बाप को दूर होते भी समीप से पहचान लिया। समीप के सम्बन्ध में आ गये। ब्राह्मण जीवन की रीति रसम को अपनी आदि रीति रसम समझ सहज अपने जीवन में अपना लिया है। इसको कहा जाता है विशेष लवली और लकी बच्चे। जैसे बच्चों को विशेष खुशी है बापदादा को भी विशेष खुशी है। ब्राह्मण परिवार की आत्मायें विश्व के कोने-कोने में पहुँच गई थी लेकिन कोने-कोने से बिछुड़ी हुई श्रेष्ठ आत्मायें फिर से अपने परिवार में पहुँच गई हैं। बाप ने ढूँढा आपने पहचाना इसलिए प्राप्ति के अधिकारी बन गये। अच्छा-

ऐसे अविनाशी प्राप्ति स्वरूप बच्चों को, सदा सर्व सम्बन्धों के अनु-भव करने वाले बच्चों को, सदा अविनाशी सम्पतिवान बच्चों को, सदा बाप समान श्रेष्ठ संस्कार और सदा स्व के भाव में रहने वाले सर्व प्राप्तियों के भण्डार सर्व प्राप्तियों के महान दानी बच्चों को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

युगलों के साथ – अव्यक्त बापदादा की मुलाकात

प्रवृत्ति में रहते सर्व बन्धनों से न्यारे और बाप के प्यारे हो ना? फंसे हुए तो नहीं हो? पिंजड़े के पंछी तो नहीं, उड़ते पंछी हो ना! जरा भी बंधन फंसा लेता है। बंधनमुक्त हैं तो सदा उड़ते रहेंगे। तो किसी भी प्रकार का बंधन नहीं। ना देह का, ना सम्बन्ध का, ना प्रवृत्ति का, ना पदार्थ का। कोई भी बन्धन ना हो इसको कहा जाता है ‘न्यारा और प्यारा’। स्वतंत्र सदा उड़ती कला में होंगे और परतंत्र थोड़ा उड़ेंगे भी फिर बन्धन उसको खींच कर नीचे ले आयेगा। तो कभी नीचे, कभी ऊपर, टाइम चला जायेगा। सदा एकरस उड़ती कला की अवस्था और कभी नीचे, कभी ऊपर यह अवस्था, दोनों में रात-दिन का अन्तर है। आप कौन-सी अवस्था वाले हो? सदा निर्बन्धन, सदा स्वतंत्र पंछी? सदा बाप के साथ रहने वाले? किसी भी आकर्षण में आकर्षित होने वाले नहीं। वही जीवन प्यारी है। जो बाप के प्यारे बनते उनकी जीवन सदा प्यारी बनती। खिट-खिट वाली जीवन नहीं। आज यह हुआ, कल यह हुआ, नहीं। लेकिन सदा बाप के साथ रहने वाले, एकरस स्थिति में रहने वाले। वह है मौज की जीवन। मौज में नहीं होंगे तो मूंझेंगे जरूर। आज यह प्राब्लम आ गई, कल दूसरी आ गई, यह दु:खधाम की बातें दु:खधाम में तो आयेंगी ही लेकिन संग-मयुगी ब्राह्मण हैं तो दु:ख नीचे रह जायेगा। दु:खधाम से किनारा कर लिया तो दु:ख दिखाई देते भी आपको स्पर्श नहीं करेगा। कलियुग को छोड़ दिया, किनारा छोड़ चुके, अब संगमयुग पर पहुंचे तो संगम सदा ऊंचा दिखाते हैं। संगमयुगी आत्मायें सदा ऊंची, नीचे वाली नहीं। जब बाप उड़ाने के लिए आये हैं तो उड़ती कला से नीचे आयें ही क्यों! नीचे आना माना फंसना। अब पंख मिले हैं तो उड़ते रहो, नीचे आओ ही नहीं। अच्छा?

अधरकुमारों से:- सभी एक की लगन में मगन रहने वाले हो ना? एक बाप दूसरे हम, तीसरा न कोई। इसको कहा जाता है लगन में मगन रहने वाले। मैं और मेरा बाबा। इसके सिवाए और कोई मेरा है? मेरा बच्चा, मेरा पोत्रा… ऐसे तो नहीं। ‘मेरे’ में ममता रहती है। मेरा-पन समाप्त होना अर्थात ममता समाप्त होना। तो सारी ममता यानी मोह बाप में हो गया। तो बदल गया, शुद्ध मोह हो गया। बाप सदा शुद्ध है तो मोह बदलकर प्यार हो गया। एक मेरा बाबा, इस एक मेरे से सब समाप्त हो जाता और एक की याद सहज हो जाती इसलिए सदा सहजयोगी। मैं श्रेष्ठ आत्मा और मेरा बाबा बस! श्रेष्ठ आत्मा समझने से श्रेष्ठ कर्म स्वत: होंगे, श्रेष्ठ आत्मा के आगे माया आ नहीं सकती।

माताओं से:- मातायें सदा बाप के साथ खुशी के झूले में झूलने वाली हैं ना! गोप गोपियां सदा खुशी में नाचते या झूले में झूलते। तो सदा बाप के साथ रहने वाले खुशी में नाचते हैं। बाप साथ है तो सर्व-शक्तियाँ भी साथ हैं। बाप का साथ शक्तिशाली बना देता। बाप के साथ वाले सदा निर्मोही होते, उन्हें किसी का मोह सतायेगा नहीं। तो नष्टोमोहा हो? कैसी भी परिस्थिति आवे लेकिन हर परिस्थिति में ‘नष्टोमोहा’। जितना नष्टोमोहा होंगी उतना याद और सेवा में आगे बढ़ती रहेंगी।

मधुबन में आये हुए सेवाधारियों से:-सेवा का खाता जमा हो गया ना। अभी भी मधुबन के वातावरण में शक्तिशाली स्थिति बनाने का चांस मिला और आगे के लिए भी जमा किया। तो डबल प्राप्ति हो गई। यज्ञ सेवा अर्थात श्रेष्ठ सेवा श्रेष्ठ स्थिति में रहकर करने से पदमगुणा फल बन जाता है। कोई भी सेवा करो, पहले यह देखो कि शक्तिशाली स्थिति में स्थित हो सेवाधारी बन सेवा कर रहे हैं? साधारण सेवाधारी नहीं, रूहानी सेवाधारी। रूहानी सेवाधारी की रूहानी झलक, रूहानी फलक सदा इमर्ज रूप में होनी चाहिए। रोटी बेलते भी ‘स्वदर्शन चक्र’ चलता रहे। लौकिक निमित्त स्थूल कार्य लेकिन स्थूल सूक्ष्म दोनों साथ-साथ, हाथ से स्थूल काम करो और बुद्धि से मंसा सेवा करो तो डबल हो जायेगा। हाथ द्वारा कर्म करते हुए भी याद की शक्ति से एक स्थान पर रहते भी, बहुत सेवा कर सकते हो। मधुबन तो वैसे भी लाइट हाउस है, लाइट हाउस एक स्थान पर स्थित हो, चारों ओर सेवा करता है। ऐसे सेवाधारी अपनी और दूसरों की बहुत श्रेष्ठ प्रालब्ध बना सकते हैं। अच्छा! ओम शान्ति।

आज बापदादा ने पूरी रात सभी बच्चों से मिलन मनाया और सुबह 7 बजे यादप्यार दे विदाई ली, सुबह का क्लास बापदादा ने ही कराया

रोज़ बापदादा द्वारा महावाक्य सुनते-सुनते महान आत्मायें बन गयी। तो आज के दिन का यही सार सारा दिन मन के साज़ के साथ सुनना कि महावाक्य सुनने से महान बने हैं। महान ते महान कर्तव्य करने के लिए सदा निमित हैं। हर आत्मा के प्रति मन्सा से, वाचा से, सम्पर्क से महा-दानी आत्मा हैं और सदा महान युग के आह्वान करने वाले अधिकारी आत्मा हैं। यही याद रखना। सदा ऐसे महान स्मृति में रहने वाली श्रेष्ठ आत्माओं को, सिकीलधे बच्चों को बापदादा का यादप्यार और गुडमा-र्निंग। होवनहार और वर्तमान बादशाहों को बाप की नमस्ते। अच्छा।

वरदान:- शुद्ध और समर्थ संकल्पों की शक्ति से व्यर्थ वायब्रेशन को समाप्त करने वाले सच्चे सेवाधारी भव
कहा जाता है संकल्प भी सृष्टि बना देता है। जब कमजोर और व्यर्थ संकल्प करते हो तो व्यर्थ वायुमण्डल की सृष्टि बन जाती है। सच्चे सेवाधारी वह हैं जो अपने शुद्ध शक्तिशाली संकल्पों से पुराने वायब्रेशन को भी समाप्त कर दें। जैसे साइंस वाले शस्त्र से शस्त्र को खत्म कर देते हैं, एक विमान से दूसरे विमान को गिरा देते हैं, ऐसे आपके शुद्ध, समर्थ संकल्प का वायब्रेशन, व्यर्थ वायब्रेशन को समाप्त कर दे, अब ऐसी सेवा करो।
स्लोगन:- विघ्न रूपी सोने के महीन धागों से मुक्त बनो, मुक्ति वर्ष मनाओ।

 

सूचनाः- आज मास का तीसरा रविवार है, सभी संगठित रूप में सायं 6.30 से 7.30 बजे तक अन्तर्राष्ट्रीय योग में सम्मिलित हो, कम्बाइन्ड स्वरूप की स्मृति में रह अपनी सूक्ष्म वृत्ति द्वारा शक्तिशाली वायुमण्डल बनाने की सेवा करें।

TODAY MURLI 20 OCTOBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 20 October 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 19 October 2018 :- Click Here

20/10/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, have such practice of staying in remembrance that you don’t remember anyone at the end except the one Father.
Question: By following which shrimat can you children become fortunate?
Answer: The Father’s shrimat is: Children, become conquerors of sleep. The early morning time is very good. Wake up at that time and remember Me, your Father, and you will become very fortunate. If you don’t wake up early in the morning, then, by remaining asleep, you lose out. Simply to sleep and eat means to lose out. Therefore, instil the habit of waking up early in the morning.
Song: You wasted the night in sleeping and the day in eating.

Om shanti. This story is for you children. The Father says: Children, to eat and sleep is not really a life. Since you children have been receiving the donation of these imperishable jewels of knowledge, your aprons are becoming full. Therefore, to sleep and eat means to lose out. There is great praise of waking up early in the morning on the path of devotion and also on the path of knowledge because there is a lot of peace in the early morning hours; all souls are in their original religion. They become bodiless and take a rest. At that time, you can have a lot of remembrance. During the day, there is a lot of chaos of Maya. Only that time is good. We are now becoming like diamonds from shells. The Father says to the children: You are My children and I am your Child. How the Father becomes the Child is something to be understood. The Father gives the inheritance to His children. In fact, I am the Businessman anyway. Your bodies and minds that are worth shells, are not worth a penny. I take everything old of yours and give it all back to you for you to look after as trustee s. You have been singing for birth after birth: I will surrender myself to You. I will sacrifice myself. Mine is One and none other. Because all are brides, they remember the one Bridegroom. Forget your body and all bodily relationships and let there be such remembrance of just the One that, at the end, you don’t remember either your body or anyone else. You have to have that much practice. The early morning time is very good. This is your true pilgrimage. People have been going on pilgrimages for birth after birth, but they haven’t attained liberation, and so those were false pilgrimages. This is the true spiritual pilgrimage for liberation and liberation-in-life. When people go on pilgrimages, they remember Amarnath, Badrinath. They especially speak of the four pilgrimage places. How many pilgrimage places have you been to? How much devotion have you done? You have been doing it for half the cycle. No one knows these things. Only the Father Himself comes to liberate you. He becomes your Guide and takes you back with Him. He is such a wonderful Guide. He takes you children to the lands of liberation and liberation-in-life. No one else can be such a Guide. Sannyasis simply speak of the land of liberation. They wouldn’t be able to use the expression, ‘liberation-in-life’. They consider that to be temporary happiness like the droppings of a crow. You children know that the Father is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. O Mother and Father, when we become Your children, all our sorrow is removed. We become happy for half the cycle. This remains in your intellects, does it not? However, when you get involved in business etc. you forget this. You don’t wake up early in the morning. Those who remain asleep lose out. You know that you have truly received a birth like a diamond. If you don’t wake up, even now, it would be understood that you are not fortunate because you don’t wake up early in the morning and remember the most beloved Father and Bridegroom. The Bridegroom became separated from you for half the cycle and you forgot the Father for the whole cycle. Then, on the path of devotion, you remembered Him in the form of the Beloved or the Father. The bride remembers the Bridegroom. He is also called the Father. The Father is now personally in front of you and so you have to follow His shrimat. If you don’t follow shrimat, you fall. Shrimat means the directions of Shiv Baba. You cannot say: We don’t know whose directions we receive. You should understand that He is also responsible for the directions this one gives, just as, in a worldly way, a father is responsible for his children. “Son shows father  ;this body of Brahma shows the Father. He is a very dearly beloved child. There are many very good children who don’t know whose directions they follow or who gives them directions. They don’t even remember Baba. They don’t wake up early in the morning and remember Baba and so their sins are not absolved. Baba tells you: I make so much effort and yet the suffering of karma still continues, because it is not just a question of this one birth; there are the karmic accounts of many births. You have received the direction : when you tell Baba about your sins of just this one birth, half can be cut away. The Father says: I know and Dharamraj knows that you have committed many sins. Dharamraj has been giving punishment in the jail of a womb. You are now making effort and having your sins absolved and so you will receive the palace of a womb. Maya doesn’t exist there that she would make people commit sin for which they would have to experience punishment. For half the cycle it is the Godly kingdom and for half the cycle it is Ravan’s kingdom. The example of the snake is also from here. Sannyasis have copied you. Similarly, Baba gives you the example of the buzzing moth. Just as a buzzing moth takes insects into her home, so you too bring impure ones here. Then you change them from shudras into Brahmins. Your name is brahmini (Brahmin teacher). This example of the brahmari (buzzing moth) is very good. Many come here in a practical way, but some remain weak and others decay; some are finished. Maya brings great storms. In fact, each one of you is Hanuman. No matter how many storms Maya brings, we will never forget Baba or heaven. Baba repeatedly tells you to remain cautious. People go stumbling along on pilgrimages. Here, you don’t go anywhere else. You simply have to continue to remember the one Father and the land of happiness. You are truly those who become victorious. This is called the power of the intellect’s yoga and the power of knowledge. By remembering the Father, you receive power and the lock on the intellect opens. If someone’s activity is unlawful, his intellect becomes locked. The Father explains: If you do something like that, then, according to the drama, your intellect will become locked. You won’t be able to tell anyone not to indulge in vice. Your conscience will continue to bite you inside: I have committed so many sins. On the path of ignorance, too, your conscience bites. When someone is dying he cries out in distress. Then, at the end, all his sins appear in front of him. As soon as the soul enters the jail of a womb, punishment begins. Everything will definitely be remembered at the end. So, the Father now says: You don’t have to cry out in distress. You must simply not commit sin. There are jailbirds. You too were jailbirds. Baba is now liberating you from any punishment in the jail of a womb. He says: Remember Me, your Father, and you will be liberated from sins and become pure. If you then fall, you will be badly hurt. First, there is impure arrogance. Then there are lust and anger. Lust is the greatest enemy. It has been causing you sorrow from its beginning through the middle to the end. You make effort to receive happiness from the beginning through the middle to the end. Therefore, you should make full effort. Some say that they are unable to wake up early in the morning. In that case, they won’t be able to claim a high status. They will have to become maids or servants. There, you won’t have to pick up cow dung. There are no road sweepers etc. there. Even now, they don’t have servants etc. abroad. Everything becomes clean automatically. There is no dirt there, but, yes, there will be cremators and maids and servants. The Father tells you children all the secrets. The whole kingdom is in your intellect. You have now understood the drama. First of all, you must explain this cycle. Invite the Governor etc. for the opening ceremony. You children are given directions: Before you have the opening ceremony, explain to them: Bharat was elevated and it has now become corrupt. The worthy-of-worship deities of Bharat have become human beings who are worshippers. You must definitely explain this to them so that they themselves say that you explain to them the secrets of the world cycle. Those who know these things are said to be trikaldarshi. If a human being doesn’t know the drama, of what use is he? Many people say that the purity of the BKs is very good. Everyone likes purity. Sannyasis are pure and the deities are also pure and this is why people bow their heads in front of them. However, this is something else. Only the Supreme Soul can be the Purifier: it cannot be a human guru who makes impure ones pure. You should explain: Please have mercy for yourself and understand this matter so that your status will become very high. Explain to them how the people of Bharat have become worshippers from being worthy of worship and how the deities, the people of Bharat, take 84 births. You definitely have to explain these things to them. Three thousand years before Christ, the people of Bharat were deities. That was called heaven, the land of happiness. Heaven has now become hell. If you sit and explain this to them, you will be praised a great deal. You should also give a party for journalists. Then, everything depends on them as to whether they set fire to or throw water on everything you have done. You children know that the war has to take place. Rivers of blood will flow in Bharat. When partition took place, so many people became homeless. The Governments became completely separate. That too is fixed in the drama. They fight among themselves and cause friction. In the beginning, Hindustan and Pakistan were not separate. Rivers of blood have to flow in Bharat, because only then will rivers of ghee flow there. So, what would be the consequence? Only a few are saved. You Pandavas are incognito. So, first of all, give the introduction to the Governor. You first of all have to praise those to whom you have to go. However, only you understand the secret of what is written about them. They don’t understand that this kingdom is like a mirage. According to the drama, their own plans are also made. In the Mahabharata, they show that annihilation took place. No great annihilation takes place. The knowledge of the world cycle should echo inside you children at every moment. First of all, they should understand who it is that gives you these teachings. Only then would they understand that they too are truly the children of Shiva and also the children of Prajapita Brahma. This is a genealogical tree. Prajapita Brahma is the greatgreatgrandfather. Brahma is the most senior in the human world tree. Shiva would not be called this. He is just called the Father. The title “g reat-great-grandfather” belongs to Prajapita Brahma. There must definitely also be the grandmother and the grandchildren. You children have to explain all of this. Shiva is the Father of all souls. He creates the world through Brahma. You know how many generations there are. You should explain to the Governor : Such exhibitions should take place on every corner and arrangements made for us. We don’t even have three square feet of land and yet we then become the masters of the world. If you make these arrangements for us, we will do service to make Bharat into heaven. If they give you even a little help, all the people would begin to say that even the Governor has become a Brahma Kumar. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Surrender your body, mind and wealth that are worth shells to the Father and then look after them as a trustee. Remove your attachment from them.
  2. Wake up early in the morning and remember the Father with a lot of love. Gain victory over Maya with the power of knowledge and the power of your intellect’s yoga.
Blessing: May you be an elevated soul who constantly flies in the flying stage with wings of zeal and enthusiasm.
Along with knowledge and yoga, let there be new zeal and enthusiasm at every moment of every day in your every act. This is the basis of the flying stage. No matter what the task may be, whether it is of cleaning, washing dishes or any other ordinary work, let there be natural and constant zeal and enthusiasm in that too. An elevated soul will constantly continue to fly in the flying stage with wings of zeal and enthusiasm. Such a soul would never become confused or tired over trivial matters and come to a halt.
Slogan: Those who are humble hearted, tireless and constantly ignited lights are world benefactors.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 20 OCTOBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 20 October 2018

To Read Murli 19 October 2018 :- Click Here
20-10-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – याद में रहने की ऐसी प्रैक्टिस करो जो अन्त में एक बाप के सिवाए दूसरा कोई भी याद न आये”
प्रश्नः- किस एक श्रीमत को पालन करने से तुम बच्चे तकदीरवान बन सकते हो?
उत्तर:- बाप की श्रीमत है – बच्चे, नींद को जीतने वाले बनो। सवेरे का समय बहुत अच्छा होता है। उस समय उठकर मुझ बाप को याद करो तो तुम बख्तावर बन जायेंगे। अगर सवेरे-सवेरे उठते नहीं हैं तो जिन सोया तिन खोया। सिर्फ सोना और खाना – यह तो गँवाना है इसलिए सवेरे उठने की आदत डालो।
गीत:- तूने रात गँवाई सोय के……..

ओम् शान्ति। यह कहानी बच्चों प्रति है। बाप कहते हैं बच्चे खाना और सोना, यह कोई लाइफ नहीं। जबकि तुम बच्चों को यह अविनाशी ज्ञान रत्नों का दान मिल रहा है, झोली भर रही है। फिर सोना और खाना यह तो गँवाना है। सवेरे उठने की बड़ी महिमा है। भक्ति मार्ग में भी, ज्ञान मार्ग में भी, क्योंकि सवेरे के समय बहुत शान्ति रहती है। आत्मायें सब अपने स्वधर्म में रहती हैं। अशरीरी होकर विश्राम पाती हैं। उस समय याद बहुत रहती है। दिन में तो माया का धमपा रहता है, यह एक ही टाइम अच्छा है। अभी हम कौड़ी से हीरे जैसा बन रहे हैं। बच्चों को बाप कहते हैं तुम हमारे बच्चे हो, हम तुम्हारे बच्चे हैं। बाप बच्चा बनता है, यह भी समझने की बात है। बाप अपने बच्चों को वर्सा देते हैं। वैसे मैं सौदागर तो हूँ ही। तुम्हारा कौड़ी जैसा तन-मन यह सब वर्थ नाट ए पेनी है। वह पुराना तुम्हारा सब कुछ लेकर फिर तुमको दे देता हूँ कि ट्रस्टी होकर सम्भालो। तुम जन्म बाई जन्म गाते आये हो – कुर्बान जाऊंगी, बलिहार जाऊंगी। हमारा तो एक, दूसरा न कोई क्योंकि सजनियां तो सब हैं। तो एक ही साजन को याद करेंगी। देह सहित सब सम्बन्धों को भूलते-भूलते एक की ही इतनी याद रहे जो अन्त में न यह शरीर, न और कोई याद आये। इतनी प्रैक्टिस करनी है। सवेरे का समय बड़ा अच्छा है। तुम्हारी यह सच्ची-सच्ची यात्रा है। वह तो जन्म बाई जन्म यात्रायें करते आये लेकिन मुक्ति को तो पाया नहीं, तो झूठी यात्रा हुई ना। यह है रूहानी और सच्ची मुक्ति और जीवनमुक्ति की यात्रा। मनुष्य तीर्थो पर जाते हैं तो अमरनाथ, बद्रीनाथ याद रहते हैं ना। ख़ास 4 धाम कहते हैं। तुमने कितने धाम किये होंगे! कितनी भक्ति की होगी! आधा-कल्प करते आये हो। अब इन बातों को कोई भी जानते ही नहीं। बाप ही आकर लिबरेट करके फिर गाइड बन साथ ले जाते हैं। कितना वन्डरफुल गाइड है। बच्चों को ले जाते हैं – मुक्ति-जीवनमुक्ति धाम। ऐसा गाइड कोई होता नहीं। सन्यासी लोग सिर्फ मुक्तिधाम कहेंगे, जीवनमुक्ति अक्षर उनके मुख से निकलेगा नहीं। उसको तो वह काग विष्टा समान अल्पकाल का सुख समझते हैं। तुम बच्चे जानते हो बाप है दु:ख हर्ता, सुख कर्ता। हे मात-पिता, आपके जब हम बालक बनते हैं तो हमारे सब दु:ख दूर हो जाते हैं। आधाकल्प हम सुखी बन जाते हैं। यह तो बुद्धि में रहता है ना। परन्तु धन्धे आदि में जाने से भूल जाते हैं। सवेरे उठते नहीं हैं। जिन सोया तिन खोया।

तुम जानते हो – बरोबर हमको हीरे जैसा जन्म मिला है। अब भी अगर नींद से सवेरे नहीं उठेंगे तो समझेंगे यह बख्तावर नहीं है। सुबह को उठकर मोस्ट बिलवेड बाप को, साजन को याद नहीं करते हैं। आधा-कल्प से साजन बिछुड़ा है और बाप को तुम सारा कल्प भूल जाते हो फिर भक्ति मार्ग में तुम साजन के रूप में वा बाप के रूप में याद करते हो। सजनी साजन को भी याद करती है। उनको फिर बाप भी कहा जाता है। अभी बाप सम्मुख है तो उनकी श्रीमत पर चलना पड़े। श्रीमत पर अगर नहीं चलते तो यह गिरे। श्रीमत अर्थात् शिवबाबा की मत। ऐसे नहीं, हमको क्या पता, किसकी मत मिलती है। समझना चाहिए इनकी मत का भी वह रेसपान्सिबुल है। जैसे लौकिक रीति बच्चों का बाप रेसपान्सिबुल है, सन शोज़ फादर। यह ब्रह्मा तन भी फादर का शो करता है। मुरब्बी बच्चा है। बहुत अच्छे-अच्छे बच्चे हैं जो यह नहीं जानते कि हम किसकी मत पर चलते हैं, कौन डायरेक्शन देते हैं? बाबा को तो याद नहीं करते। सवेरे उठते नहीं, याद नहीं करते तो विकर्म भी विनाश नहीं होते। बाबा बतलाते हैं इतनी मेहनत करता हूँ तो भी कर्मभोग चलता रहता है क्योंकि एक जन्म की तो बात नहीं है ना। अनेक जन्मों का हिसाब-किताब है। डायरेक्शन मिला हुआ है, इस जन्म के भी पाप बतलाने से आधा कट सकता है। यह तो बाप कहते हैं – मैं जानता हूँ और धर्मराज जानते हैं। पाप बहुत किये हुए हैं। धर्मराज गर्भजेल में सजा देते आये हैं। अभी तो तुम पुरुषार्थ कर, विकर्म विनाश करते हो तो फिर गर्भ महल मिलता है। वहाँ तो माया होती नहीं जो मनुष्य को पाप करावे और सजा खानी पड़े। आधाकल्प है ईश्वरीय राज्य, आधाकल्प है रावण राज्य। सर्प का मिसाल भी यहाँ का है। सन्यासियों ने कॉपी की है। जैसे भ्रमरी का मिसाल बाबा देते हैं। भ्रमरी कीड़े को अपने घर में ले आती है। तुम भी पतितों को ले आते हो। फिर उनको बैठ शूद्र से ब्राह्मण बनाते हो। तुम्हारा नाम ब्राह्मणी है। यह भ्रमरी का दृष्टान्त बहुत अच्छा है। प्रैक्टिकल में आते तो बहुत हैं फिर कोई कच्चे रह जाते, कोई सड़ जाते, कोई ख़त्म हो पड़ते। माया बड़ा त़ूफान में लाती है। तुम हर एक वास्तव में हनूमान हो। माया कितना भी तूफान लाये हम बाबा को और स्वर्ग को कभी नहीं भूलेंगे। घड़ी-घड़ी बाबा कहते हैं – सावधान! मनुष्य तो तीर्थो पर धक्के खाने लिए जाते हैं। यहाँ और तो कहाँ नहीं जाते। एक ही बाप और सुखधाम को याद करते रहना है। तुम तो बरोबर विजय पहनने वाले ही हो। इनको बुद्धियोग बल, ज्ञान बल कहा जाता है। याद करने से बल मिलता है, बुद्धि का ताला खुलता है। अगर कोई भी बेकायदे चलन चलते हैं तो उनकी बुद्धि का ताला ही बंद हो जाता है। बाप समझाते भी हैं अगर तुम ऐसा करेंगे तो ड्रामा अनुसार बुद्धि का ताला बन्द हो जायेगा। किसको कह नहीं सकेंगे कि विकार में मत जाओ। अन्दर खाता रहेगा – हमने इतने पाप किये हैं! अज्ञानकाल में भी खाता है। मरते हैं फिर तोबां-तोबां करते हैं। फिर पिछाड़ी में सब पाप सामने आ जाते हैं। गर्भजेल में गया फट से सजायें शुरू हो जाती हैं। पिछाड़ी में याद जरूर आता है। तो अब बाप कहते हैं तुमको तो तोबां-तोबां नहीं करनी है, तुम पाप मत करो। जेल बर्ड होते हैं ना। तुम भी जेल बर्ड थे। अभी बाबा गर्भ जेल की सजाओं से छुड़ाते हैं। कहते हैं मुझ बाप को याद करो तो पापों की सजाओं से छूट जायेंगे, तुम पावन बन जायेंगे। अगर फिर गिरे तो बहुत चोट लग जायेगी। अशुद्ध अहंकार है पहले। फिर है काम, क्रोध। काम महाशत्रु है। यह तुमको आदि-मघ्य-अन्त दु:ख देते आये हैं। तुम आदि-मध्य-अन्त सुख के लिए पुरुषार्थ करते हो। तो पूरा पुरुषार्थ करना चाहिए। बोलते हैं सवेरे जाग नहीं सकते हैं तो फिर पद भी ऊंच पा नहीं सकेंगे। दास-दासी बनना पड़ेगा। वहाँ कोई गोबर आदि नहीं उठाना पड़ता, मेहतर नहीं होते। अभी भी विलायत में नौकर आदि नहीं रखते हैं। आपेही सफाई हो जाती है। वहाँ तो गन्दगी होती नहीं। बाकी चण्डाल, दास-दासियां आदि होते हैं।

बाप तुम बच्चों को सब राज़ समझाते हैं। तुम्हारी बुद्धि में सारी राजधानी है। तुम ड्रामा को समझ गये हो। पहले-पहले मुख्य इस चक्र को समझाना है। अब ओपनिंग के लिए गवर्नर आदि को बुलाते हैं। तो बच्चों को डायरेक्शन मिलते हैं ओपनिंग कराने के पहले उनको कुछ समझाओ कि भारत श्रेष्ठाचारी था, अब फिर भारत भ्रष्टाचारी बना है। भारत के पूज्य देवी-देवतायें ही फिर पुजारी मनुष्य बने हैं। यह जरूर समझाना है। जो वह खुद भी कहें कि सृष्टि चक्र का राज़ यह समझाते हैं। जो यह जानते हैं उनको त्रिकालदर्शी कहा जाता है। मनुष्य होकर अगर ड्रामा को न जाने तो बाकी क्या काम का। ऐसे तो बहुत कहते हैं बी.के. की पवित्रता बहुत अच्छी है। पवित्रता तो सबको अच्छी लगती है। सन्यासी पवित्र हैं, देवतायें पवित्र हैं तब तो उन्हों के आगे माथा झुकाते हैं ना। परन्तु यह और बात है। पतित-पावन एक परमात्मा ही हो सकता है। पतित से पावन बनाने वाला मनुष्य गुरू हो न सके। यह समझाना चाहिए। कृपा करके इस बात को आप समझो, तो आपका पद बहुत ऊंच हो जायेगा। भारत पूज्य से पुजारी कैसे बना है, भारतवासी देवी-देवता 84 जन्म कैसे लेते हैं – यह समझाओ। यह बातें जरूर समझानी है। क्राइस्ट से 3 हजार वर्ष पहले भारतवासी देवी-देवता ही थे। उसको सुखधाम हेवन कहा जाता है। स्वर्ग सो अब फिर नर्क बना है। यह फिर तुम बैठ समझायेंगे तो बहुत भारी तुम्हारी महिमा होगी। अखबार वालों को भी पार्टी देनी है। फिर वह आग लगायें या पानी डालें, उन पर सारा मदार है। यह तो तुम बच्चे जानते हो लड़ाई लगनी ही है। खून की नदी बहेगी भारत में। हमेशा यहाँ से ही खून की नदी बहती आई है। हिन्दू-मुसलमानों की बहुत मारा-मारी होती है। अभी पार्टीशन हुआ तो कितने मनुष्य दरबदर हुए। एकदम अलग-अलग राजधानी हो गई। यह भी ड्रामा में नूँध है। आपस में लड़ते, फ्रैक्शन डालते हैं। पहले कोई हिन्दुस्तान, पाकिस्तान अलग थोड़ेही था। भारत में ही रक्त की नदी बहनी है तब फिर घी की नदी बहेगी। नतीजा क्या होता है? थोड़े बच जाते हैं। तुम पाण्डव हो गुप्त वेष में।

तो गवर्नर को पहले परिचय देना है। जिसके पास जाना होता है, उनकी पहले महिमा की जाती है। परन्तु उन्हों के लिए क्या लिखा हुआ है, यह राज़ तुम ही जानो। वह थोड़ेही समझते हैं कि यह मृगतृष्णा के समान राज्य है। ड्रामा अनुसार उन्हों के भी अपने प्लैन्स बनते ही हैं। महाभारत में दिखाते हैं प्रलय हो गई। अब महाप्रलय तो होती नहीं। तुम बच्चों के अन्दर सृष्टि चक्र का ज्ञान हर वक्त गूँजना चाहिए। पहले तो वह समझें कि इन्हों को शिक्षा देने वाला कौन है! तब समझें बरोबर हम भी तो शिव के बच्चे हैं। प्रजापिता ब्रह्मा के भी बच्चे हैं। यह सिजरा है। प्रजापिता ब्रह्मा है ग्रेट ग्रेट ग्रैन्ड फादर। मनुष्य सृष्टि का बड़ा तो ब्रह्मा हो गया ना। शिव को ऐसे नहीं कहेंगे, उनको सिर्फ फादर कहेंगे। ग्रेट ग्रेट ग्रैन्ड फादर – यह टाइटिल हो गया प्रजापिता ब्रह्मा का। जरूर ग्रैन्ड मदर, ग्रैन्ड चिल्ड्रेन भी होंगे। तुम बच्चों को यह सब समझाना है। शिव है सभी आत्माओं का बाप। ब्रह्मा द्वारा सृष्टि रचते हैं। तुम जानते हो हमारी फिर कितनी बिरादरियां निकलती हैं। गवर्नर को समझाना चाहिए कि ऐसी एग्जीवीशन तो कोने-कोने में करानी चाहिए, आप प्रबन्ध कराके दो। हमको तो देखो तीन पैर पृथ्वी के भी नहीं मिलते और फिर हम विश्व के मालिक बन जाते है। तुम प्रबन्ध करके दो तो हम भारत को स्वर्ग बनाने की सेवा करें। वह तुमको थोड़ी मदद देंगे तो भी सब उनको कहने लग पड़ेंगे कि गवर्नर भी ब्रह्माकुमार बना है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) कौड़ी जैसा तन-मन-धन जो भी है उसे बाप पर कुर्बान कर फिर ट्रस्टी होकर सम्भालना है। ममत्व निकाल देना है।

2) सवेरे-सवेरे उठ बाप को प्यार से याद करना है। ज्ञान बल और बुद्धियोग बल से माया पर विजय पानी है।

वरदान:- सदा उमंग-उत्साह के पंखों द्वारा उड़ती कला में उड़ने वाली श्रेष्ठ आत्मा भव
ज्ञान-योग के साथ-साथ हर समय, हर कर्म में, हर दिन नया उमंग-उत्साह बना रहे, यही उड़ती कला का आधार है। कैसा भी कार्य हो, चाहे सफाई का हो, बर्तन मांजने का हो, साधारण कर्म हो, उसमें भी उमंग-उत्साह नैचुरल और निरन्तर हो। उड़ती कला वाली श्रेष्ठ आत्मा उमंग-उत्साह के पंखों से सदा उड़ती रहेगी, वह कभी कनफ्युज़ नहीं होगी, छोटी-छोटी बातों में थककर रुकेगी नहीं।
स्लोगन:- जो निमार्णचित, अथक और सदा जागती ज्योत हैं – वही विश्व कल्याणकारी हैं।
Font Resize