20 july ki murli

TODAY MURLI 20 JULY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 20 July 2020

20/07/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, become free from bondage and remain busy in service, because you can earn a huge income through this service; you become the masters of Paradise for 21 births.
Question: Which habit should each one of you children instil in yourself?
Answer: To explain points of the murli. If your Brahmin teacher goes somewhere, it should be possible to hold class among yourselves. If you do not learn how to conduct class, how would it be possible to make others become like yourselves? You should not become confused without your teacher. This study is simple. Continue to keep the class going because this practice is also required.
Song: Look at your face in the mirror of your heart, o man!

Om shanti. When you children are listening to this knowledge, each of you should sit with the faith that you are a soul and also have the faith that the Father, the Supreme Soul, is speaking it to you. Only the one Father gives these directions. These directions are called shrimat. Shri means the most elevated of all. He is the unlimited Father who is called God, the Highest on High. There are many human beings who don’t have the love to consider the Supreme Soul to be the Father. Although they worship Shiva and remember Him with a lot of love, human beings have also said that the Supreme Soul is in everyone. Therefore, for whom would they have that love? This is how their intellects have no love for the Father. On the path of devotion, when they have sorrow or some illness etc., they show their love. They say: O God, protect me! You children know that the Gita was shrimat given by God through this mouth. There is no other scripture in which God taught Raj Yoga or gave shrimat. There is just the one Gita of Bharat. That has a great deal of impact. Only the Gita is spoken by God. When the word “God” is said, the vision goes towards the incorporeal One. People point their finger upwards. They would never say this of Krishna because he is a bodily being. You now understand about your relationship with Him. Therefore, you are told to remember the Father and have love for Him. Souls remember their Father. God is now teaching you children. Therefore, you should have a great deal of intoxication. It should also be permanent. It should not be that when your teacher is in front of you, you are intoxicated and when she is not there, your intoxication disappears and you say that you are unable to look after the class without your teacher. Baba explains that at some centres the teacher might go away for five to six months and that the students are able to look after their centre, because this study is very simple. Some become blind and lame without their teacher. Because their teacher has gone somewhere, they stop going to their centre. Ah! but there are many other students there too. Are you not able to hold class? When a guru goes somewhere, his disciples take care of everything in his absence. Children have to do serviceStudents are numberwise. BapDada knows where He has to send the first-class children. You children have been studying for many years. Therefore, you must have learnt something in order to be able to get together and run your centre yourselves. You continue to receive murlis; an explanation is given on the basis of the points. You have developed the habit of listening, but not the habit of giving knowledge. If you stay in remembrance, you will be able to imbibe knowledge. There has to be someone at your centre who could say: OK, the teacher isn’t here and so I can manage the centre. Baba has sent the teacher to another good centre for service. Therefore, you should not become confused without your teacher. If you don’t become like your teacher, how are you going to make others become like you? How would you create subjects? Everyone receives murlis. You children should be happy to sit on the gaddi and explain knowledge to others. By practising this, you can become serviceable. When Baba asks whether you have become serviceable, no one comes forward. You should take leave from work to do service. Wherever you are invited to go for service, you should take leave and go there. The children who are free from bondage can do such service. The income you earn from this Government is much greater than the income from that Government. God is teaching you, through which you become the masters of Paradise for 21 births. The income you earn is so huge! What would you receive from that income? Temporary happiness. Here, you become the masters of the world. Those who have firm faith would say that they will become engaged in this service. However, there has to be full intoxication. Check yourself and see whether you are able to explain this knowledge to others. It is very easy. At the end of the iron age, there are billions of human beings whereas in the golden age there will definitely only be a few. The Father would surely come at the confluence age to establish it. The old world has to be destroyed. The Mahabharat War is very famous. This war only takes place after God comes and teaches Raj Yoga for the golden age and makes you into the kings of kings. He enables you to reach your karmateet stage. He says: Renounce your bodies and all your bodily religions and remember Me alone and your sins will continue to be cut away. Effort is needed to consider yourself to be a soul and to remember the Father. Not a single human being knows the meaning of yoga. The Father explains that the path of devotion is fixed in the drama. The path of devotion has to continue. It is predestined in the play. There is knowledge, devotion and disinterest. There are two types of disinterest: one is limited disinterest and the other is unlimited. You children are now making effort to forget the whole of the old world because you know that you are now going to the Temple of Shiva, the pure world. All of you Brahma Kumars and Kumaris are brothers and sisters. You cannot have vicious vision. Nowadays, everyone’s vision has become criminal, because they are tamopradhan. This world is called hell but no one considers himself to be a resident of hell. Because they don’t know themselves, they say that heaven and hell both exist here together. Each one says whatever enters his mind. This is not heaven. There was a kingdom in heaven. They were religious and righteous. They had so much power. You are now once again making effort. You will then become the masters of the world. You come here in order to become the masters of the world. Heavenly God, the Father, who is called Shiva, the Supreme Soul, is teaching you. You children should have so much intoxication. This knowledge is absolutely easy. You children have to renounce all your old habits. The habit of jealousy causes a great deal of harm. Everything of yours depends on the murli from which you can explain this knowledge to anyone, but there is jealousy inside some of you. They feel: That one is not a teacher, what does she know? Then, they don’t go to class the next day. It is these old habits that cause disserviceKnowledge is very easy. Kumaris don’t have a job etc. When some are asked whether that study is good or this study is good, they say: This study is very good. Baba, I will no longer study that study. My heart is no longer in that. If her physical father is not in knowledge, she is beaten. Some daughters are still weak. You should explain that you will become an empress through this study. Through that study, you will only be able to do a job worth pennies. This study enables you to become a master of heaven for your future 21 births. Even the subjects also become residents of heaven. At present, everyone is a resident of hell. The Father now says that you were full of all virtues. You have now become so tamopradhan! You have continued to come down the ladder. Bharat, which was called the “The Golden Sparrow”, is no longer even a pebble. Bharat used to be 100% solvent. It has now become 100% insolvent. You know that you were the masters of the world, lords of divinity. Then, while taking 84 births, you have now become lords of stone. They are in fact human beings, but they are called lords of divinity and lords of stone. You heard in the song: Look within yourself and see to what extent you have become worthy. There is the example of Narad. Day by day, everyone continues to come down. Having gradually fallen, they are now trapped in the quicksand up to their necks. You Brahmins now take hold of them all by their topknots and pull them out of the quicksand. There is no other part of the body you can hold on to. Therefore, it is easy to pull them out by their topknots. In order to remove them from the quicksand, you have to take hold of their topknots. They are so trapped in the quicksand, don’t even ask! It is the kingdom of devotion. You now say: Baba, we also came to you in the previous cycle to claim our fortune of the kingdom. Although people build temples to Lakshmi and Narayan, they don’t know how they became the masters of the world. You have now become so sensible. You know how they attained their fortune of the kingdom and how they then took 84 births. Birla has built many temples, but they (Lakshmi and Narayan) are just made like dolls. Those are small dolls, and that one (Birla) makes big dolls (idols). They make idols and then worship them. Not to know their occupation is like worshipping dolls. You now understand how wealthy the Father made you and how impoverished you have now become. Those who were worthy of worship have now become worshippers. Devotees say of God that He is both worthy of worship and a worshipper, that He causes sorrow and also gives happiness, that He Himself does everything. They become so intoxicated with that. They say that souls are immune to the effect of action, that no matter what you eat or drink or how you enjoy yourself, it is your body that will experience the effect of that and that it will be purified by bathing it in the Ganges and that you can therefore eat whatever you want! Look how much fashion there is. Whatever system and custom someone creates, that system and custom continues. The Father explains: Now come out of the ocean of poison and come to the Temple of Shiva. The golden age is called the ocean of milk. This is the ocean of poison. You know that you became impure while taking 84 births and that that was why you called out to the Purifier Father. When you use pictures to explain, it becomes easy for people to understand. The full 84 births are explained in detail in the picture of the ladder. If you are not even able to explain such an easy aspect to anyone, Baba would then understand that you’re not studying fully and that you’re not making any progress. The duty of you Brahmins is to buzz this knowledge to the insects and make them become like yourselves. Your efforts are to shed your old skins and take new ones just as a snake does. You know that your bodies are old and decayed; they have to be shed. This world is old and these bodies are also old. You now have to shed them and go to the new world. This study of yours is for the new world of heaven. This old world has to be destroyed. From just one wave of an ocean, there will be upheaval everywhere. Destruction has to take place. Natural calamities will not leave anyone out. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Remove the old habits of jealousy etc. that you have within yourselves and stay together with a lot of love. Don’t stop studying because of jealousy.
  2. Renounce all awareness of your old and decayed body. Become like a buzzing moth and buzz this knowledge to others and do the service of making them become like yourself. Become busy in this spiritual business.
Blessing: May you be a charitable soul who completely fills souls with all treasures with the support of the authority of the Almighty.
Those kings (those who had desires after the Copper age) had the full authority of giving donations and charity, and with the full power of their authority, they could make anyone whatever they wanted. In the same way, you great donor, charitable souls have received the special authority directly from the Father to become conquerors of matter and conquerors of Maya. On the basis of your pure thoughts, you can enable any souls to forge a relationship with the Father and completely fill them with all treasures. Simply use this authority in an accurate way.
Slogan: When you celebrate completion and perfection, time, matter and Maya will then bid you farewell.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 20 JULY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 20 July 2020

Murli Pdf for Print : – 

20-07-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – बन्धनमुक्त बन सर्विस में तत्पर रहो, क्योंकि इस सर्विस में बहुत ऊंच कमाई है, 21 जन्मों के लिए तुम वैकुण्ठ का मालिक बनते हो”
प्रश्नः- हर एक बच्चे को कौन-सी आदत डालनी चाहिए?
उत्तर:- मुरली की प्वाइंट पर समझाने की। ब्राह्मणी (टीचर) अगर कहीं चली जाती है तो आपस में मिलकर क्लास चलानी चाहिए। अगर मुरली चलाना नहीं सीखेंगे तो आप समान कैसे बनायेंगे। ब्राह्मणी बिगर मूँझना नहीं चाहिए। पढ़ाई तो सिम्पुल है। क्लास चलाते रहो, यह भी प्रैक्टिस करनी है।
गीत:- मुखड़ा देख ले प्राणी…….

ओम् शान्ति। बच्चे जब सुनते हैं तो अपने को आत्मा निश्चय कर बैठे और यह निश्चय करें कि बाप परमात्मा हमको सुना रहे हैं। यह डायरेक्शन अथवा मत एक ही बाप देते हैं। उनको ही श्रीमत कहा जाता है। श्री अर्थात् श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ। वह है बेहद का बाप, जिसको ऊंच ते ऊंच भगवान कहा जाता है। बहुत मनुष्य हैं जो उस लव से परमात्मा को बाप समझते भी नहीं हैं। भल शिव की भक्ति करते हैं, बहुत प्यार से याद करते हैं परन्तु मनुष्यों ने कह दिया है कि सभी में परमात्मा है, तो वह लव किसके साथ रखें इसलिए बाप से विपरीत बुद्धि हो गये हैं। भक्ति में जब कोई दु:ख वा रोग आदि होता है तो प्रीत दिखाते हैं। कहते हैं भगवान रक्षा करो। बच्चे जानते हैं गीता है श्रीमत भगवान के मुख से गाई हुई। और कोई ऐसा शास्त्र नहीं जिसमें भगवान ने राजयोग सिखाया हो वा श्रीमत दी हो। एक ही भारत की गीता है, जिसका प्रभाव भी बहुत है। एक गीता ही भगवान की गाई हुई है, भगवान कहने से एक निराकार तरफ ही दृष्टि जाती है। अंगुली से इशारा ऊपर में करेंगे। कृष्ण के लिए ऐसे कभी नहीं कहेंगे क्योंकि वह तो देहधारी है ना। तुमको अब उनके साथ सम्बन्ध का पता पड़ा है इसलिए कहा जाता है बाप को याद करो, उनसे प्रीत रखो। आत्मा अपने बाप को याद करती है। अभी वह भगवान बच्चों को पढ़ा रहे हैं। तो वह नशा बहुत चढ़ना चाहिए। और नशा भी स्थाई चढ़ना चाहिए। ऐसे नहीं ब्राह्मणी सामने है तो नशा चढ़े, ब्राह्मणी नहीं तो नशा उड़ जाए। बस ब्राह्मणी बिगर हम क्लास नहीं कर सकते। कोई-कोई सेन्टर्स के लिए बाबा समझाते हैं कहाँ से 5-6 मास भी ब्राह्मणी निकल जाती तो आपस में सेन्टर सम्भालते हैं क्योंकि पढ़ाई तो सिम्पुल है। कई तो ब्राह्मणी बिगर जैसे अन्धे लूले हो जाते हैं। ब्राह्मणी निकल आई तो सेन्टर में जाना छोड़ देंगे। अरे, बहुत बैठे हैं, क्लास नहीं चला सकते हो। गुरू बाहर चला जाता है तो चेले पिछाड़ी में सम्भालते हैं ना। बच्चों को सर्विस करनी हैं। स्टूडेन्ट में नम्बरवार तो होते ही हैं। बापदादा जानते हैं कहाँ फर्स्टक्लास को भेजना है। बच्चे इतने वर्ष सीखे हैं, कुछ तो धारणा हुई होगी जो सेन्टर को चलायें आपस में मिलकर। मुरली तो मिलती ही है। प्वाइंट्स के आधार पर ही समझाते हैं। सुनने की आदत पड़ी फिर सुनाने की आदत पड़ती नहीं। याद में रहें तो धारणा भी हो। सेन्टर पर ऐसे तो कोई होने चाहिए जो कहें अच्छा ब्राह्मणी जाती है, हम सेन्टर को सम्भालते हैं। बाबा ने ब्राह्मणी को कहाँ अच्छे सेन्टर पर भेजा है सर्विस के लिए। ब्राह्मणी बिगर मूँझ नहीं जाना चाहिए। ब्राह्मणी जैसे नहीं बनेंगे तो दूसरों को आप समान कैसे बनायेंगे, प्रजा कैसे बनायेंगे। मुरली तो सबको मिलती है। बच्चों को खुशी होनी चाहिए हम गद्दी पर बैठ समझायें। प्रैक्टिस करने से सर्विसएबुल बन सकते हैं। बाबा पूछते हैं सर्विसएबुल बने हो? तो कोई भी नहीं निकलते हैं। सर्विस के लिए छुट्टी ले लेनी चाहिए। जहाँ भी सर्विस के लिए बुलावा आये वहाँ पर छुट्टी लेकर चले जाना चाहिए। जो बन्धनमुक्त बच्चे हैं वह ऐसी सर्विस कर सकते हैं। उस गवर्मेन्ट से तो इस गवर्मेन्ट की कमाई बहुत ऊंच है। भगवान पढ़ाते हैं, जिससे तुम 21 जन्मों के लिए वैकुण्ठ का मालिक बनते हो। कितनी भारी आमदनी है, उस कमाई से क्या मिलेगा? अल्पकाल का सुख। यहाँ तो विश्व का मालिक बनते हो। जिनको पक्का निश्चय है वह तो कहेंगे हम इसी सेवा में लग जायें। परन्तु पूरा नशा चाहिए। देखना है हम किसको समझा सकते हैं! है बहुत सहज। कलियुग अन्त में इतने करोड़ मनुष्य हैं, सतयुग में जरूर थोड़े होंगे। उसकी स्थापना के लिए जरूर बाप संगम पर ही आयेंगे। पुरानी दुनिया का विनाश होना है। महाभारत लड़ाई भी मशहूर है। यह लगती ही तब है जबकि भगवान आकर सतयुग के लिए राजयोग सिखलाए राजाओं का राजा बनाते हैं। कर्मातीत अवस्था को प्राप्त कराते हैं। कहते हैं देह सहित देह के सब सम्बन्ध छोड़ मामेकम् याद करो तो पाप कटते जायेंगे। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करना – यही मेहनत है। योग का अर्थ एक भी मनुष्य नहीं जानते हैं।

बाप समझाते हैं भक्ति मार्ग की भी ड्रामा में नूँध है। भक्ति मार्ग चलना ही है। खेल बना हुआ है – ज्ञान, भक्ति, वैराग्य। वैराग्य भी दो प्रकार का होता है। एक है हद का वैराग्य, दूसरा है यह बेहद का वैराग्य। अभी तुम बच्चे सारी पुरानी दुनिया को भूलने का पुरूषार्थ करते हो क्योंकि तुम जानते हो हम अब शिवालय, पावन दुनिया में जा रहे हैं। तुम सब ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ भाई-बहन हो। विकारी दृष्टि जा न सके। आजकल तो सबकी दृष्टि क्रिमिनल हो गई है। तमोप्रधान हैं ना। इसका नाम ही है नर्क परन्तु अपने को नर्कवासी समझते थोड़ेही हैं। स्वयं का पता ही नहीं तो कह देते स्वर्ग-नर्क यहाँ ही है। जिसके मन में जो आया वह कह दिया। यह कोई स्वर्ग नहीं है। स्वर्ग में तो किंगडम थी। रिलीजस, राइटियस थे। कितना बल था। अभी फिर तुम पुरूषार्थ कर रहे हो। विश्व का मालिक बन जायेंगे। यहाँ तुम आते ही हो विश्व का मालिक बनने। हेविनली गॉड फादर जिसको शिव परमात्मा कहा जाता है, वह तुमको पढ़ाते हैं। बच्चों में कितना नशा रहना चाहिए। बिल्कुल इज़ी नॉलेज है। तुम बच्चों में जो भी पुरानी आदतें हैं वह छोड़ देनी हैं। ईर्ष्या की आदत भी बहुत नुकसान करती है। तुम्हारा सारा मदार मुरली पर है, तुम कोई को भी मुरली पर समझा सकते हो। परन्तु अन्दर में ईर्ष्या रहती है – यह कोई ब्राह्मणी थोड़ेही है, यह क्या जानें। बस दूसरे दिन आयेंगे ही नहीं। ऐसी आदतें पुरानी पड़ी हुई हैं, जिस कारण डिससर्विस भी होती है। नॉलेज तो बड़ी सहज है। कुमारियों को तो कोई धन्धा आदि भी नहीं है। उनसे पूछा जाता है वह पढ़ाई अच्छी या यह पढ़ाई अच्छी? तो कहते हैं यह बहुत अच्छी है। बाबा अभी हम वह पढ़ाई नहीं पढ़ेंगी। दिल नहीं लगती। लौकिक बाप ज्ञान में नहीं होगा तो मार खायेंगी। फिर कोई बच्चियां कमजोर भी होती हैं। समझाना चाहिए ना – इस पढ़ाई से हम महारानी बनेंगी। उस पढ़ाई से क्या पाई पैसे की नौकरी करेंगी। यह पढ़ाई तो भविष्य 21 जन्म के लिए स्वर्ग का मालिक बनाती है। प्रजा भी स्वर्गवासी तो बनती है ना। अभी सब हैं नर्कवासी।

अब बाप कहते हैं तुम सर्वगुण सम्पन्न थे। अब तुम ही कितने तमोप्रधान बन पड़े हो। सीढ़ी उतरते आये हो। भारत जिसे सोने की चिड़िया कहते थे, अभी तो ठिक्कर की भी नहीं है। भारत 100 परसेन्ट सालवेन्ट था। अब 100 परसेन्ट इनसालवेन्ट है। तुम जानते हो हम विश्व के मालिक पारसनाथ थे। फिर 84 जन्म लेते-लेते अब पत्थरनाथ बन पड़े हैं। हैं तो मनुष्य ही परन्तु पारसनाथ और पत्थरनाथ कहा जाता है। गीत भी सुना – अपने अन्दर को देखो हम कहाँ तक लायक हैं। नारद का मिसाल है ना। दिन-प्रतिदिन गिरते ही जाते हैं। गिरते-गिरते एकदम दुबन में गले तक फँस पड़े हैं। अब तुम ब्राह्मण सभी को चोटी से पकड़कर दुबन से निकालते हो बाहर। और कोई पकड़ने की जगह तो है नहीं। तो चोटी से पकड़ना सहज है। दुबन से निकालने के लिए चोटी से पकड़ना होता है। दुबन में ऐसे फँसे हुए हैं जो बात मत पूछो। भक्ति का राज्य है ना। अभी तुम कहते हो बाबा हम कल्प पहले भी आपके पास आये थे – राज्य भाग्य पाने। लक्ष्मी-नारायण के मन्दिर भल बनाते रहते हैं परन्तु उनको यह पता नहीं है कि यह विश्व के मालिक कैसे बनें। अभी तुम कितने समझदार बने हो। तुम जानते हो इन्हों ने राज्य-भाग्य कैसे पाया। फिर 84 जन्म कैसे लिए। बिरला कितने मन्दिर बनाते हैं। जैसे गुड़िया बना लेते हैं। वह छोटी-छोटी गुड़िया यह फिर बड़ी गुड़िया बनाते हैं। चित्र बनाकर पूजा करते हैं। उनका आक्यूपेशन न जानना तो गुड़ियों की पूजा हुई ना। अभी तुम जानते हो बाप ने हमको कितना साहूकार बनाया था, अब कितने कंगाल बन पड़े हैं। जो पूज्य थे, सो अब पुजारी बन पड़े हैं। भक्त लोग भगवान के लिए कह देते आपेही पूज्य आपेही पुजारी। आप ही सुख देते हो, आप ही दु:ख देते हो। सब कुछ आप ही करते हो। बस इसमें ही मस्त हो जाते हैं। कहते हैं आत्मा निर्लेप है, कुछ भी खाओ पियो मौज करो, शरीर को लेप-छेप लगता है, वह गंगा स्नान से शुद्ध हो जायेगा। जो चाहिए सो खाओ। क्या-क्या फैशन है। बस जिसने जो रिवाज डाला वह चल पड़ता है। अब बाप समझाते हैं विषय सागर से चलो शिवालय में। सतयुग को क्षीर सागर कहा जाता है। यह है विषय सागर। तुम जानते हो हम 84 जन्म लेते पतित बने हैं, तब तो पतित-पावन बाप को बुलाते हैं। चित्रों पर समझाया जाता है तो मनुष्य सहज समझ जाएं। सीढ़ी में पूरा 84 जन्मों का वृतान्त है। इतनी सहज बात भी किसको समझा नहीं सकेंगे। तो बाबा समझेंगे पूरा पढ़ते नहीं हैं। उन्नति नहीं करते हैं।

तुम ब्राह्मणों का कर्तव्य है – भ्रमरी के मिसल कीड़ों को भूँ-भूँ कर आप समान बनाना। और तुम्हारा पुरूषार्थ है – सर्प के मिसल पुरानी खाल छोड़ नई लेने का। तुम जानते हो यह पुराना सड़ा हुआ शरीर है, इनको छोड़ना है। यह दुनिया भी पुरानी है। शरीर भी पुराना है। यह छोड़कर अब नई दुनिया में जाना है। तुम्हारी यह पढ़ाई है ही नई दुनिया स्वर्ग के लिए। यह पुरानी दुनिया खलास हो जानी है। सागर की एक ही लहर से सारा डांवाडोल हो जायेगा। विनाश तो होना ही है ना। नैचुरल कैलेमिटीज किसको भी छोड़ती नहीं है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अन्दर जो ईर्ष्या आदि की पुरानी आदतें हैं, उसे छोड़ आपस में बहुत प्यार से मिलकर रहना है। ईर्ष्या के कारण पढ़ाई नहीं छोड़नी है।

2) इस पुराने सड़े हुए शरीर का भान छोड़ देना है। भ्रमरी की तरह ज्ञान की भूँ-भूँ कर कीड़ों को आप समान बनाने की सेवा करनी है। इस रूहानी धन्धे में लग जाना है।

वरदान:- आलमाइटी सत्ता के आधार पर आत्माओं को मालामाल बनाने वाले पुण्य आत्मा भव
जैसे दान पुण्य की सत्ता वाले सकामी राजाओं में सत्ता की फुल पावर थी, जिस पावर के आधार पर चाहे किसी को क्या भी बना दें। ऐसे आप महादानी पुण्य आत्माओं को डायरेक्ट बाप द्वारा प्रकृतिजीत, मायाजीत की विशेष सत्ता मिली हुई है। आप अपने शुद्ध संकल्प के आधार से किसी भी आत्मा का बाप से सम्बन्ध जोड़कर मालामाल बना सकते हो। सिर्फ इस सत्ता को यथार्थ रीति यूज़ करो।
स्लोगन:- जब आप सम्पूर्णता की बधाईयां मनायेंगे तब समय, प्रकृति और माया विदाई लेगी।

TODAY MURLI 20 JULY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 20 July 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 19 July 2019:- Click Here

20/07/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, in order to become Kalangidhar (one who was defamed and became worthy of worship), make your stage unshakeable and immovable. The more accusations that are made against you, the more you become Kalangidhar.
Question: What is the Father’s order? By following which main order do you children become seated on the heart throne?
Answer: The Father’s order is: Sweet children, you mustn’t have any conflict with anyone. Remain peaceful. If someone doesn’t like something you say, just remain silent. Do not harass one another. You can become seated on BapDada’s heart throne when there are no evil spirits inside you, when you don’t speak bitter words and when speaking sweetly becomes your way of life.

Om shanti. God speaks: May you be soul conscious! This definitely has to be said first. This is a caution for you children. The Father says: When I say “Child, child” I am looking at a soul. The body is an old shoe. That cannot become satopradhan. You will receive satopradhan bodies in the golden age. You souls are now becoming satopradhan, but your bodies are the same old bodies. You souls now have to reform yourselves; you have to become pure. In the golden age, you will receive pure bodies. In order to purify the soul, remember the one Father. The Father also only looks at you souls. You souls will not become pure by His just looking at you. The more you remember the Father, the purer you will continue to become. That is your duty. You have to become satopradhan by remembering the Father. The Father has come to show you the way. This body will remain old till the end. These are just physical organs which have a connection with the soul. When a soul has become beautiful, he performs good actions. There, even birds and animals are very good. Here, birds fly away when they see human beings, whereas there, such good birds will be flying around you in a disciplined manner. It isn’t that they would come into your home, dirty it and then fly away again. No, that is a very disciplined world. As you progress further, you will have visions of everything. Now there is a lot of margin. The praise of heaven is limitless. The Father’s praise is limitless, and so even the praise of the Father’s property is also limitless. You children should be so intoxicated. The Father says: I remember those souls who do servicethey are automatically remembered. The mind and intellect are in the soul. You can understand whether you are doing firstclassservice or secondclass service. You understand all of this, numberwise. Some build museums and go to the President or Governor etc. They must definitely be explaining to them very well. Each one has his own virtues. When someone has good virtues, it is said: That one is so virtuous. Those who are serviceable will always speak very sweetly. They would never be able to speak bitter words. Those who speak bitterly have evil spirits in them. Body consciousness is number one. Then the other evil spirits follow that and enter. People have very bad behaviour. The Father says: The poor things can’t be blamed. You have to make the same effort that you made in the previous cycle. Consider yourselves to be souls and remember the Father, and then the string (control) of the whole world will gradually come into your hands. This is the drama cycle and it is telling you the time accurately. There is very little time left. When those people give independence to a country, they split the country in two. They then continue to fight among themselves. Otherwise, who would buy their ammunition etc? That is also their business. According to the drama, that is their cleverness. They have split everything up into pieces here too. One side says: We should receive this piece of land because it has not been distributed properly. There is more water flowing on that side, there is a lot more land on that side and very little water on this side. They fight among themselves in this way and then there is civil war. There is a lot of fighting. When you become the Father’s children, you also have to take insults. Baba has explained that you are now becoming Kalangidhar. You are also insulted in the same way that Baba is. You know that those poor helpless people do not know that you are to become the masters of the world. The matter of 84 births is very easy. You are the ones who become worthy of worship and you are the ones who are then worshipped. If someone’s intellect is unable to imbibe anything, that would be said to be his part in the drama. What can one do? No matter how much you beat your head, he just cannot climb up. He is inspired to make effort, but it is not in his fortune. A kingdom is being established and all are needed in that. You should think in this way and remain silent. There shouldn’t be any conflict with anyone. You have to explain with love: Do not do that. Your status will become even lower if you do. It is the soul that listens. Sometimes, when you tell someone something good, he becomes peaceless. In that case, you should leave him alone. If someone is like that, he will continue to harass others. That will continue till the end. Maya becomes more and more severe day by day. Maya also becomes a maharathi and fights with the maharathis. When storms of Maya come, develop the practice of remembering the Father and you will remain completely unshakeable and immovable. You understand that Maya will harass you, but you mustn’t be afraid. Those who are to become Kalangidhar will be insulted, but you mustn’t become upset because of that. Journalists can print anything against you because it is a matter of purity. Innocent ones will be assaulted. There are the names of the devils, Akasur and Bakasur. There are even names of female devils such as Putna and Supnakha. First of all, you children relate praise of the Father. The unlimited Father says: You are souls. No one, apart from the Father, can give you this knowledge. The knowledge of the Creator and creation is the study through which you become spinners of the discus of self-realisation and rulers of the globe. The ornaments also belong to you, but you Brahmins are effort-makers. This is why these ornaments have been given to Vishnu. No one else can tell you all the things about what a soul is and what the Supreme Soul is. Where did souls come from? How does a soul leave a body? Sometimes, they say that he departed through the eyes, sometimes, through the forehead and sometimes they say that he left through the scull. No one can know this. You now know that the soul will shed his body while just sitting in remembrance of the Father. You should go to the Father in great happiness. You have to shed your old bodies in happiness, just like the example of the snake. Human beings don’t even have the wisdom that animals have. Those sannyasis etc. simply give those examples. The Father says: You have to become like the buzzing moths who convert the insects. You too have to convert them from human insects. You mustn’t just give examples, but do it in a practicalway. You children now have to return home. You are receiving the inheritance from the Father and so there should be that happiness inside you. Those people don’t know about the inheritance. Everyone receives peace; everyone goes to the land of peace. No one, apart from the Father, can grant salvation to everyone. You also have to explain: “You belong to the path of isolation and you make effort to merge into the brahm element. The Father creates the family path. You cannot go to the golden age. You will not be able to explain this knowledge to anyone.” This is something very deep. First of all, you have to teach others the lesson of Alpha and beta. Tell them: You have two fathers: a limited one and the unlimited One. You take birth to a limited father through vice. So much sorrow is received. In the golden age, there is limitless happiness. There, birth is as smooth as butter. There is no question of sorrow; the very name is heaven. You receive the inheritance of the unlimited sovereignty from the unlimited Father. First, there is happiness and then there is sorrow. It is wrong to say that there is sorrow first and that then there is happiness. It is the new world that is established first. It is not the old world that is established. Would anyone build an old building? Ravan cannot exist in the new world. The Father also explains: You have to have all of these methods in your intellects. The unlimited Father gives you unlimited happiness. How does He give that? Come and we will explain to you. You need to have ways of explaining this. Also give them a vision of the types of sorrow in the land of sorrow. There is so much sorrow! It is limitless. The very name is the land of sorrow. No one can call this the land of happiness. Shri Krishna stays in the land of happiness. Even Krishna’s Temple is called the land of happiness. He was the master of the land of happiness and he is worshipped in the temples even now. If this Baba were to go to the Lakshmi and Narayan Temple now, he would say: “Oho! I am going to become that!” He would not worship them now. He is becoming number one, so he would not worship those who are second or third. “I am becoming part of the sun dynasty.” People don’t know this; they call everyone God. There is so much darkness! You explain so well. It takes time. It will take as much time as it did in the previous cycle. Nothing can be hurried. Your present birth is like a diamond. Even the birth of the deities cannot be said to be like a diamond. They are not in God’s family. This is your Godly family and that is your divine family. These are such new things. In the Gita, it is like a pinch of salt in a sackful of flour. People have made such a mistake by inserting Krishna’s name. Tell them: You call the deities deities, so why do you call Krishna God? Who is Vishnu? You understand this. People continue to perform worship just like that, without knowledge. The deities are the most ancient and they were previously in heaven. Everyone has to go through the stages of sato, rajo and tamo. At this time, all are tamopradhan. Many points are explained to you children. You can explain very well using the badge. You have to remember the Father and the Teacher who is teaching you. However, there is such a tug of war with Maya. Many very good points continue to emerge. If you don’t listen to anything, how would you be able to relate those points? Generally, when the maharathis are on tour, they miss the murli; they don’t read it then. They are full. The Father says: I tell you such deep things! You have to listen to them and imbibe them. If you don’t imbibe anything, you remain weak. Many children churn the ocean of knowledge and relate very good points. Baba sees that they extract points according to their stage. The serviceable children are able to extract some points which this one has never related. They remain engaged in service. Many good points are also printed in the magazine. So, you children become the masters of the world. The Father makes you so elevated! It says in the song: You will have the string (control) of the whole world in your hands. No one can snatch it away from you. Lakshmi and Narayan were the masters of the world. It would definitely have been the Father who taught them. You can explain how they attained that royal status. The temple priests do not know this. You should have a lot of happiness. You can also explain that God is not omnipresent. Tell them: At this time, the five evil spirits are omnipresent. These vices are in each and every one. There are the five evil spirits of Maya. Maya is omnipresent. You say that God is omnipresent. That is a mistake. How can God be omnipresent? He gives you the unlimited inheritance. He changes thorns into flowers. You children have to practise explaining to others. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. When someone spreads peacelessness or troubles you, you have to remain silent. If some do not reform themselves, even after being cautioned about something, you can only say that that is their fortune because a kingdom is being established.
  2. Churn the ocean of knowledge and serve by extracting new points. Never miss the deep things that the Father relates to you every day.
Blessing: May you be a master almighty authority and experience every power in a practical way according to the time.
To be a master means that whatever power you invoke according to the time, you experience that power in a practical form that very moment. As soon as you order it, it becomes present. Let it not be that you order the power of tolerance and the power to face instead comes in front of you. That is not called being a master. So, have a trial as to whether the power you need at a particular time comes to you use at that time? If there is the difference of even a second, then, instead of being victorious, you would be defeated.
Slogan: To the extent that you have Godly intoxication in your intellect, let there be just as much humility in your actions.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 20 JULY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 20 July 2019

To Read Murli 19 July 2019 :- Click Here
20-07-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – कलंगीधर बनने के लिए अपनी अवस्था अचल-अडोल बनाओ, जितना तुम पर कलंक लगते हैं, उतना तुम कलंगीधर बनते होˮ
प्रश्नः- बाप की आज्ञा क्या है? किस मुख्य आज्ञा पर चलने वाले बच्चे दिल तख्तनशीन बनते हैं?
उत्तर:- बाप की आज्ञा है – मीठे बच्चे, तुम्हें कोई से भी खिट-खिट नहीं करनी है। शान्ति में रहना है। अगर कोई को तुम्हारी बात अच्छी नहीं लगती तो तुम चुप रहो। एक-दो को तंग नहीं करो। बापदादा के दिलतख्तनशीन तब बन सकते जब अन्दर कोई भी भूत न रहे, मुख से कभी कोई कडुवे बोल न निकलें, मीठा बोलना जीवन की धारणा हो जाए।

ओम् शान्ति। भगवानुवाच, आत्म-अभिमानी भव – पहले-पहले जरूर कहना पड़े। यह है बच्चों के लिए सावधानी। बाप कहते हैं कि हम बच्चे-बच्चे कहते हैं तो आत्माओं को ही देखता हूँ, शरीर तो पुरानी जुत्ती है। यह सतोप्रधान बन नहीं सकता। सतोप्रधान शरीर तो सतयुग में ही मिलेगा। अभी तुम्हारी आत्मा सतोप्रधान बन रही है। शरीर तो वही पुराना है। अभी तुमको अपनी आत्मा को सुधारना है। पवित्र बनना है। सतयुग में शरीर भी पवित्र मिलेगा। आत्मा को शुद्ध करने के लिए एक बाप को याद करना होता है। बाप भी आत्मा को देखते हैं। सिर्फ देखने से आत्मा शुद्ध नहीं बनेगी। वह तो जितना बाप को याद करेंगे उतना शुद्ध होते जायेंगे। यह तो तुम्हारा काम है। बाप को याद करते-करते सतोप्रधान बनना है। बाप तो आया ही है रास्ता बताने। यह शरीर तो अन्त तक पुराना ही रहेगा। यह तो सिर्फ कर्मेन्द्रियां हैं, जिससे आत्मा का कनेक्शन है। आत्मा गुल-गुल बन जाती है फिर कर्तव्य भी अच्छे करती है। वहाँ पंछी जानवर भी अच्छे-अच्छे रहते हैं। यहाँ चिड़िया मनुष्यों को देख भागती है, वहाँ तो ऐसे अच्छे-अच्छे पंछी तुम्हारे आगे-पीछे घूमते फिरते रहेंगे वह भी कायदेसिर। ऐसे नहीं घर के अन्दर घुस आयेंगे, गंद करके जायेंगे। नहीं, बहुत कायदे की दुनिया होती है। आगे चल तुमको सब साक्षात्कार होते रहेंगे। अभी मार्जिन तो बहुत पड़ी है। स्वर्ग की महिमा तो अपरमअपार है। बाप की महिमा भी अपरमअपार है, तो बाप के प्रापर्टी की महिमा भी अपरमअपार है। बच्चों को कितना नशा चढ़ना चाहिए। बाप कहते हैं मैं उन आत्माओं को याद करता हूँ, जो सर्विस करते हैं वह ऑटोमेटिकली याद आते हैं। आत्मा में मन-बुद्धि है ना। समझते हैं कि हम फर्स्ट नम्बर की सर्विस करते या सेकण्ड नम्बर की करते हैं। यह सब नम्बरवार समझते हैं। कोई तो म्युजियम बनाते हैं, प्रेजीडेण्ट, गवर्नर आदि के पास जाते हैं। जरूर अच्छी रीति समझाते होंगे। सबमें अपना-अपना गुण है। कोई में अच्छे गुण होते हैं तो कहा जाता है यह कितना गुणवान है। जो सर्विसएबुल होंगे वह सदैव मीठा बोलेंगे। कड़ुवा कभी बोल नहीं सकेंगे। जो कड़ुवा बोलने वाले हैं उनमें भूत है। देह-अभिमान है नम्बरवन, फिर उनके पीछे और भूत प्रवेश करते हैं।

मनुष्य बद-चलन भी बहुत चलते हैं। बाप कहते हैं इन बिचारों का दोष नहीं है। तुमको मेहनत ऐसी करनी है जैसे कल्प पहले की है, अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो फिर आहिस्ते-आहिस्ते सारे विश्व की डोर तुम्हारे हाथों में आने वाली है। ड्रामा का चक्र है, टाइम भी ठीक बताते हैं। बाकी बहुत कम समय बचा है। वो लोग आजादी देते हैं तो दो टुकड़ा कर देते हैं, आपस में लड़ते रहें। नहीं तो उन्हों का बारूद आदि कौन लेगा। यह भी उन्हों का व्यापार है ना। ड्रामा अनुसार यह भी उन्हों की चालाकी है। यहाँ भी टुकड़े-टुकड़े कर दिया है। वह कहते यह टुकड़ा हमको मिले, पूरा बंटवारा नहीं किया गया है, इस तरफ पानी जास्ती जाता है, खेती बहुत होती है, इस तरफ पानी कम है। आपस में लड़ पड़ते हैं, फिर सिविलवार हो पड़ती है। झगड़े तो बहुत होते हैं। तुम जब बाप के बच्चे बने हो तो तुम भी गाली खाते हो। बाबा ने समझाया था – अभी तुम कलंगीधर बनते हो। जैसे बाबा गाली खाते हैं, तुम भी गाली खाते हो। यह तो जानते हो कि इन बिचारों को पता नहीं है कि यह विश्व के मालिक बनते हैं। 84 जन्मों की बात तो बहुत सहज है। आपेही पूज्य, आपेही पुजारी भी तुम बनते हो। कोई की बुद्धि में धारणा नहीं होती है, यह भी ड्रामा में उनका ऐसा पार्ट है। कर क्या सकते हैं। कितना भी माथा मारो परन्तु ऊपर चढ़ नहीं सकते हैं। तदबीर तो कराई जाती है लेकिन उनकी तकदीर में नहीं है। राजधानी स्थापन होती है, उनमें सब चाहिए। ऐसा समझकर शान्त में रहना चाहिए। कोई से भी खिटपिट की बात नहीं। प्यार से समझाना पड़ता है – ऐसे न करो। यह आत्मा सुनती है, इससे और ही पद कम हो जायेगा। कोई-कोई को अच्छी बात समझाओ तो भी अशान्त हो पड़ते हैं, तो छोड़ देना चाहिए। खुद भी ऐसा होगा तो एक-दो को तंग करता रहेगा। यह पिछाड़ी तक रहेगा। माया भी दिन-प्रतिदिन कड़ी होती जाती है। महारथियों से माया भी महारथी होकर लड़ती है। माया के त़ूफान आते हैं फिर प्रैक्टिस हो जाती है बाप को याद करने की, एकदम जैसे अचल-अडोल रहते हैं। समझते हैं माया हैरान करेगी। डरना नहीं है। कलंगीधर बनने वालों पर कलंक लगते हैं, इसमें नाराज़ नहीं होना चाहिए। अखबार वाले कुछ भी खिल़ाफ डालते हैं क्योंकि पवित्रता की बात है। अबलाओं पर अत्याचार होंगे। अकासुर-बकासुर नाम भी है। स्त्रियों का नाम भी पूतना, सूपनखा है।

अब बच्चे पहले-पहले महिमा भी बाप की सुनाते हैं। बेहद का बाप कहते हैं तुम आत्मा हो। यह नॉलेज एक बाप के सिवाए कोई दे नहीं सकता। रचता और रचना का ज्ञान, यह है पढ़ाई, जिससे तुम स्वदर्शन चक्रधारी बन चक्रवर्ती राजा बनते हो। अलंकार भी तुम्हारे हैं परन्तु तुम ब्राह्मण पुरूषार्थी हो इसलिए यह अलंकार विष्णु को दे दिया है। यह सब बातें – आत्मा क्या है, परमात्मा क्या है, कोई भी बता नहीं सकते। आत्मा कहाँ से आई, निकल कैसे जाती, कभी कहते हैं आंखों से निकली, कभी कहते हैं भ्रकुटी से निकली, कभी कहते हैं माथे से निकल गई। यह तो कोई जान नहीं सकता। अभी तुम जानते हो – आत्मा शरीर ऐसे छोड़ेगी, बैठे-बैठे बाप की याद में देह का त्याग कर देंगे। बाप के पास तो खुशी से जाना है। पुराना शरीर खुशी से छोड़ना है। जैसे सर्प का मिसाल है। जानवरों में भी जो अक्ल है, वह मनुष्यों में नहीं है। वह सन्यासी आदि तो सिर्फ दृष्टांत देते हैं। बाप कहते हैं तुमको ऐसा बनना है जैसे भ्रमरी कीड़े को ट्रांसफर कर देती है, तुमको भी मनुष्य रूपी कीड़े को ट्रांसफर कर देना है। सिर्फ दृष्टान्त नहीं देना है लेकिन प्रैक्टिकल करना है। अब तुम बच्चों को वापिस घर जाना है। तुम बाप से वर्सा पा रहे हो तो अन्दर में खुशी होनी चाहिए। वह तो वर्से को जानते ही नहीं। शान्ति तो सबको मिलती है, सब शान्तिधाम में जाते हैं। सिवाए बाप के कोई भी सर्व की सद्गति नहीं करते। यह भी समझाना होता है, तुम्हारा निवृत्ति मार्ग है, तुम तो ब्रह्म में लीन होने का पुरूषार्थ करते हो। बाप तो प्रवृत्ति मार्ग बनाते हैं। तुम सतयुग में आ नहीं सकते हो। तुम यह ज्ञान किसको समझा नहीं सकेंगे। यह बहुत गुह्य बात है। पहले तो कोई को अलफ-बे ही पढ़ाना पड़ता है। बोलो तुमको दो बाप हैं – हद का और बेहद का। हद के बाप के पास जन्म लेते हो विकार से। कितने अपार दु:ख मिलते हैं। सतयुग में तो अपार सुख हैं। वहाँ तो जन्म ही मक्खन मिसल होता है। कोई दु:ख की बात नहीं। नाम ही है स्वर्ग। बेहद के बाप से बेहद की बादशाही का वर्सा मिलता है। पहले है सुख, पीछे है दु:ख। पहले दु:ख फिर सुख कहना रांग है। पहले नई दुनिया स्थापन होती है, पुरानी थोड़ेही स्थापन होती है। पुराना मकान कभी कोई बनाते हैं क्या। नई दुनिया में तो रावण हो न सके। यह भी बाप समझाते हैं तो बुद्धि में युक्तियां हों। बेहद का बाप बेहद का सुख देते हैं। कैसे देते हैं आओ तो समझायें। कहने की भी युक्ति चाहिए। दु:खधाम के दु:खों का भी तुम साक्षात्कार कराओ। कितने अथाह दु:ख हैं, अपरम्पार हैं। नाम ही है दु:खधाम। इनको सुखधाम कोई कह नहीं सकता। सुखधाम में श्रीकृष्ण रहते हैं। कृष्ण के मन्दिर को भी सुखधाम कहते हैं। वह सुखधाम का मालिक था, जिसकी मन्दिरों में अभी पूजा होती है। अभी यह बाबा लक्ष्मी-नारायण के मन्दिर में जायेंगे तो कहेंगे ओहो! यह तो हम बनते हैं। इनकी पूजा थोड़ेही करेंगे। नम्बरवन बनते हैं तो फिर सेकण्ड थर्ड की पूजा क्यों करें। हम तो सूर्यवंशी बनते हैं। मनुष्यों को थोड़ेही पता है। वह तो सबको भगवान् कहते रहते हैं। अंधकार कितना है। तुम कितना अच्छी रीति समझाते हो। टाइम लगता है। जो कल्प पहले लगा था, जल्दी कुछ भी कर नहीं सकते। हीरे जैसा जन्म तुम्हारा यह अभी का है। देवताओं का भी हीरे जैसा जन्म नहीं कहेंगे। वह कोई ईश्वरीय परिवार में थोड़ेही हैं। यह है तुम्हारा ईश्वरीय परिवार। वह है दैवी परिवार। कितनी नई-नई बातें हैं। गीता में तो आटे में नमक मिसल है। कितनी भूल कर दी है – कृष्ण का नाम डालकर। बोलो, तुम देवताओं को तो देवता कहते हो फिर कृष्ण को भगवान् क्यों कहते हो। विष्णु कौन है? यह भी तुम समझते हो। मनुष्य तो बिगर ज्ञान के ऐसे ही पूजा करते रहते हैं। प्राचीन भी देवी-देवता हैं जो स्वर्ग में होकर गये हैं। सतो, रजो, तमो में सबको आना है। इस समय सब तमोप्रधान हैं। बच्चों को प्वाइंट्स तो बहुत समझाते हैं। बैज़ पर भी तुम अच्छा समझा सकते हो। बाप और पढ़ाने वाले टीचर को याद करना पड़े। परन्तु माया की भी कितनी कशमकशा चलती है। बहुत अच्छी-अच्छी प्वाइंट्स निकलती रहती हैं। अगर सुनेंगे नहीं तो सुना कैसे सकेंगे। अक्सर करके बाहर में बड़े महारथी इधर-उधर जाते हैं तो मुरली मिस कर देते हैं, फिर पढ़ते नहीं। पेट भरा हुआ है। बाप कहते हैं कितनी गुह्य-गुह्य बातें तुमको सुनाता हूँ, जो सुनकर धारण करना है। धारणा नहीं होगी तो कच्चे रह जायेंगे। बहुत बच्चे भी विचार सागर मंथन कर अच्छी-अच्छी प्वाइंट्स सुनाते हैं। बाबा देखते हैं, सुनते हैं जैसी-जैसी अवस्था ऐसी-ऐसी प्वाइंट्स निकाल सकते हैं। जो कभी इसने नहीं सुनाई है वह सर्विसएबुल बच्चे निकालते हैं। सर्विस पर ही लगे रहते हैं। मैगज़ीन में भी अच्छी प्वाइंट्स डालते हैं।

तो तुम बच्चे विश्व का मालिक बनते हो। बाप कितना ऊंच बनाते हैं, गीत में भी है ना सारे विश्व की बागड़ोर तुम्हारे हाथ में होगी। कोई छीन न सके। यह लक्ष्मी-नारायण विश्व के मालिक थे ना। उन्हों को पढ़ाने वाला जरूर बाप ही होगा। यह भी तुम समझा सकते हो। उन्होंने राज्य पद पाया कैसे? मन्दिर के पुजारी को पता नहीं। तुमको तो अथाह खुशी होनी चाहिए। यह भी तुम समझा सकते हो ईश्वर सर्वव्यापी नहीं। इस समय तो 5 भूत सर्वव्यापी हैं। एक-एक में यह विकार हैं। माया के 5 भूत हैं। माया सर्वव्यापी है। तुम फिर ईश्वर सर्वव्यापी कह देते हो। यह तो भूल है ना। ईश्वर सर्वव्यापी हो कैसे सकता। वह तो बेहद का वर्सा देते हैं। कांटों को फूल बनाते हैं। समझाने की प्रैक्टिस भी बच्चों को करनी चाहिए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) जब कोई अशान्ति फैलाते हैं या तंग करते हैं तो तुम्हें शान्त रहना है। अगर समझानी मिलते हुए भी कोई अपना सुधार नहीं कर सकते तो कहेंगे इनकी तकदीर क्योंकि राजधानी स्थापन हो रही है।

2) विचार सागर मंथन कर ज्ञान की नई-नई प्वाइंट्स निकाल सर्विस करनी है। बाप मुरली में रोज़ जो गुह्य बातें सुनाते हैं, वह कभी मिस नहीं करनी है।

वरदान:- समय प्रमाण हर शक्ति का अनुभव प्रैक्टिकल स्वरूप में करने वाले मास्टर सर्वशक्तिमान भव
मास्टर का अर्थ है कि जिस शक्ति का जिस समय आह्वान करो वो शक्ति उसी समय प्रैक्टिकल स्वरूप में अनुभव हो। आर्डर किया और हाजिर। ऐसे नहीं कि आर्डर करो सहनशक्ति को और आये सामना करने की शक्ति, तो उसको मास्टर नहीं कहेंगे। तो ट्रायल करो कि जिस समय जो शक्ति आवश्यक है उस समय वही शक्ति कार्य में आती है? एक सेकण्ड का भी फर्क पड़ा तो जीत के बजाए हार हो जायेगी।
स्लोगन:- बुद्धि में जितना ईश्वरीय नशा हो, कर्म में उतनी ही नम्रता हो।

TODAY MURLI 20 JULY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 20 July 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 19 July 2018 :- Click Here

20/07/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, give the Father news of your stage with an open heart. Remembrance of the Father can only stay in a true and open heart.
Question: Although all, young and old, are at this time in their stage of retirement, what words can you not say?
Answer: Baba, now hurry up! Let’s go home! There is a lot of sorrow here. Baba says: You children can never say this because you are now sitting in front of God in person. You have now received the lap of coolness. At this time you have become the highest on high. In the golden age, the degrees will be reduced. You will become deity children, not God’s children. This is why you cannot say “Hurry up!”
Song: The heart desires to call out to You. 

Om shanti. Sweetest children who call out now have knowledge. Devotees call out to God. You are no longer devotees; you are children. Children remember Him and also write: Baba, we wish to listen to You directly in person. You continue to invite Him, saying: Baba, I want to listen to You personally. Apart from through the mouth of Brahma, it is difficult to listen to Baba directly. You children know that the Father has come exactly as He did in the previous cycle. The name, ‘Mouth-born creation of Brahma, decoration of the Brahmin clan’, that has been given, is such a good name. There are many Brahma Kumars and Kumaris. They have been given knowledge. The Supreme Father, the Supreme Soul, who is the Ocean of Knowledge, is also called the Ocean of Happiness. It is also sung: Remover of Sorrow and Bestower of Happiness. Only Shiv Baba is that. So many different names have been given to Him. There is a lot of praise of Him. People sing: “Har, Har”, that is, Remover of Sorrow, remove our sorrow. They sing this to God. However, because of not knowing God, they say to Brahma, Vishnu and Shankar: “Dev, Dev, Mahadev”. They have forgotten Shiva and say it to Shankar, “Har, Har, Mahadev”. Neither Brahma nor Vishnu would be called Mahadev. Both of them have physical part s. Shankar only resides in the subtle region. Only incorporeal God is the Purifier who removes our sorrow. Shankar would not be called the Purifier. All the praise is of One. The two forms of Vishnu are Lakshmi and Narayan or Radhe and Krishna and they have their separate births. The incarnation of Vishnu is also remembered: they show the four-armed image. However, they don’t know that Lakshmi and Narayan first become Princess Radhe and Prince Krishna in heaven. Only you know this. You also know that there are very strong storms of Maya in a subtle way. Maya makes you forget. She brings many storms. If you children continue to ask about anything with an open heart, you can receive the answer to the question. There are many types of storm: dreams, bad thoughts, many types of storm. A hurricane is called a storm. This Brahma is well known and, now that Baba has entered him, he has become very well known. “As is the country of human beings, so their dress.” Nowadays, there are cripples, hunchbacks and blind ones. There, there is natural beauty because even the five elements are satopradhan. Therefore, you daughters call out to Him so that you can listen to this knowledge personally. Some of the things in the songs are correct. The deity religion has disappeared, but temples exist as memorials. Similarly, there are memorials of those of all religions. Only you children understand that only the one incorporeal God is truly called the Highest on High. There is His praise alone and this is the confluence age when souls meet God. There are many souls. Growth will continue to take place. You children are now listening to the Father in person, and others too desire to listen to Him in person. They cannot come here; they are in bondage. No one is forbidden to go to other spiritual gatherings. Anyone of any religion can go where the Gita is related in Bombay. There are no fees. People go to different gurus in the hope of finding an easy path with someone. No one knows about the path to liberation or liberation-in-life. This is why they search so much. There are no gurus etc. here, just the Brahma Kumars and Kumaris, that’s all. There is no mahatma (great soul) here. This Dada is just the same as you; there is no difference. There is no difference even in your costume etc. This one sometimes takes off his shawl but, according to the drama, this is like the official dress. You don’t have to look at the dressetc. Your intellects go towards Shiv Baba. Other people would look at the human body. You forget your own bodies and also the body of this Dada. You have to become soul conscious. You mustn’t remember this one’s body. Shiv Baba is teaching us Raja Yoga through this one. He alone is knowledge-full, Trikaldarshi. At this time, He sits here and tells us the secrets of the beginning, the middle and the end. This is very easy even for the old mothers. In those schools, old women wouldn’t be able to understand anything. This is easy for anyone. The Father simply says: Remember Me; just as when a person is dying, he is given a mantra. They say: Say “Rama, Rama”, or say this etc. Generally, it is after going into the stage of retirement that people take a mantra from a guru. However, the Father says: The whole of the old world is now to be destroyed. It is the stage of retirement for all – old, young and children. No one else can say this. People ask: Have you become ready to bring about everyone’s death? Yes, everyone is to die. Some people say: Baba, how much longer will we stay here? We ought to go back soon. There is a lot of sorrow here. That will also be said as you progress further. Baba says: Why do you say that? Oho! At this time, you are personally in front of God. Later, the degrees will be degraded. You will go and become a deity child. At this time, this lap that provides coolness is good. There, in heaven, it will be cool anyway, but here, even those who are hot are made cool and so that is good. You shouldn’t be in a hurry now. At present, we are the highest on high. The whole praise is of this time. The Dilwala Temple is a memorial of this time. The Father is the One who wins the hearts of the souls of the whole world. The Dilwala Temple is for everyone. Souls call out through their bodies: Baba, come! Come and make us new because we have become old. Both the souls and the bodies have become old. Souls see without an intellect and are blind. Human beings cannot be called blind. They do have eyes, but their intellects are blind. Intellects that remember everything have completely forgotten to have remembrance. So, gopikas in different places call out. The gopikas in bondage in small villages continue to call out. The Father explains: Children, in the golden age, there was the household ashram path; it was pure. Now, people cause so much distress in order to receive poison. They don’t understand that you are made viceless here. They don’t even know what you will become by being viceless. Sannyasis too run away from their homes in order to become pure. However, they don’t know that we will become pure and go to the pure world. They don’t believe these things. At this time, there is so much sorrow that people feel it would be better to attain liberation or eternal liberation. The Father has explained that, according to the drama, no one can attain eternal liberation. You now know this. The Father says: Simply remember that your 84 births have now come to an end. Baba has now come to take you back. If you don’t remember the Father, there will be many storms. The conscience also says: It is very difficult to remember Baba constantly. Although Baba says that you are karma yogis, it is seen that, while performing actions, you forget to have remembrance. It takes time to reach such a stage. A lot of effort has to be made for that. At college, effort-making children have the hobby of studying day and night. They try to receive a scholarship from the Government. They beat their heads a lot (make a lot of effort for this). Then they become very happy. Here, too, the Father says: Study well and claim a scholarship. First of all, become seated on the heart throne. You should race ahead. You know that the Father is now sitting personally in front of you. He sits in this chariot and says to you children directly: Child, child. The body of Brahma is fixed. The Father says: I am speaking to souls. You used to call out: Baba, come! I have now come. You souls are incorporeal and I too am incorporeal. You have been remembering Me on the path of devotion while adopting different names and forms, in different places and time periods. I am now speaking to you personally. You have the support of your bodies. I have to take this one on loan. The Father says to the children: You now have to renounce your old costumes. The play is about to end. Now try to remember the Father constantly. If you continue to remember other things, there will have to be punishment. As much as possible, remove your remembrance of others. When people go on a pilgrimage, that is all they remember while on the pilgrimage. “We are going to Shrinath Dware.” Yours is the true spiritual pilgrimage. Souls have yoga with the Supreme Soul and then they continue to come and go from here in order to perform actions for the livelihood of their bodies. No matter where you are, you should have remembrance. You know that God is not omnipresent. He is the Father and the inheritance is received from the Father. There is no meaning in saying that He is omnipresent. The Father has to give the inheritance. He has no desire to receive the inheritance. He desires to give the inheritance to you children. It is also in this father’s heart that He has to give you the inheritance. There is the relationship of father and child. The children have to receive an inheritance and the father has to give it. So, what would the Father take from you? He has to give to you. The Lord is pleased with honest souls, and so you should become so honest. All of you are children and you should therefore remember the Father who gives the inheritance. Weak children don’t stay in remembrance. You may perform actions for the livelihood of your body, and then, when you have time, remember the Father. When your register of the pilgrimage of remembrance continues to become good, you will experience happiness. Any habits that human beings have continue to grow. It should remain in your intellects that your 84 births have now come to an end. The play is now to end. We are now going back to our home. This is why the Father says: Remember Me. “Manmanabhav” is mentioned in the Gita twice. There are as many true things in it as a pinch of salt in a sackful of flour. None of the pictures of other religions remain. Your pictures remain. There is an image of Brahma in Ajmer. There are many types of brahmin. They have been given many different names. Look how many languages there are! You children know that there will be just the one language in your kingdom. The language there is completely different. There is no Sanskrit etc. Daughters used to come and tell about the language that will be used there. You children should now remain happy that you are establishing your kingdom. Then, there will be your own language there. The languages that exist here cannot exist there. According to what is fixed in the drama, you will build the same palaces that you did in the previous cycle. Here, the BritishGovernment built New Delhi. You know that you will not use the name Delhi. This old world is to be destroyed. We want the newest world of all. There, palaces will be studded with diamonds and jewels. Those palaces don’t exist now. The intellect says: We will build firstclass palaces there. This world is dirty. You should talk among yourselves in this way. Respected sister, respected brother, we will now go to our home and then go and look after our kingdom. We will wear such costumes. In earlier days, people used to wear real jewellery. There must be so much jewellery in the temples to Lakshmi and Narayan. What would the Shiva Temple be like? They even make the Shivalingam of diamonds. These matters have to be understood. The Muslims truly came and looted the temple to our Shiv Baba which was built at the beginning of the path of devotion. You know that the temples to Shiv Baba were built from the copper age onwards. From being worthy of worship, you became worshippers. The Somnath Temple was built first. Knowledge is called Somras (nectar). The Father through whom you become wealthy is the One who gives knowledge. Then you build temples to the Father with that wealth. There will also be worshipping. They build a temple in every home. You know that when the path of devotion begins, you will become worshippers and create idols etc. You children know that you have now become lovers of God, the Beloved, in order to claim the inheritance from Him. Those people become lovers for vice. Here, a soul is a lover of God, the Beloved. You can see that all devotees remember that One. The praise of that Beloved is great. He purifies the lovers that have become impure. It is the soul that becomes impure and the soul that becomes pure. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to claim a scholarship, study very well. Race to be seated on the throne. While performing actions, stay in remembrance.
  2. You are on a spiritual pilgrimage. Therefore, remove the remembrance of everyone else from your intellect and constantly stay in remembrance of the Father. Keep your register of remembrance good.
Blessing: May you be a master almighty authority who gives souls who are far away the experience of closeness with your power of spirituality.
With instruments of science, things that are far away are experienced to be close. Similarly, with a divine intellect, you can experience things that are far away to be close. Just as you see souls who are living with you very clearly, you speak to them, you give and take co-operation from them, similarly, with the power of spirituality, you can give souls who are far away the experience of closeness. For this, you need to be a master almighty authority, remain stable in the complete and perfect stage and make the power of your thoughts clean.
Slogan: Those who inspire others with their every thought, word and deed are images of inspiration.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 20 JULY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 20 July 2018

To Read Murli 19 July 2018 :- Click Here
20-07-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – बाप को अपनी अवस्था का समाचार खुले दिल से दो, खुली व सच्ची दिल में ही बाप की याद टिक सकती है”
प्रश्नः- इस समय छोटे-बड़े सबकी वानप्रस्थ अवस्था होते भी तुम कौन-से बोल मुख से नहीं कह सकते हो?
उत्तर:- बाबा, अभी जल्दी करो, अभी हम घर चलें, यहाँ तो बहुत दु:ख है। बाबा कहते – तुम बच्चे ऐसा कभी नहीं कह सकते क्योंकि तुम अभी ईश्वर के सम्मुख बैठे हो। अभी तुम्हें शीतल गोद मिली है। इस समय तुम ऊंचे ते ऊंचे बने हो। सतयुग में डिग्री कम हो जायेगी। दैवी सन्तान बनेंगे, ईश्वरीय नहीं इसलिये तुम जल्दी नहीं कर सकते।
गीत:- तुम्हारे बुलाने को जी चाहता है……..

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे बुलाने वाले बच्चों ने अब जाना। भक्त भगवान् को बुलाते हैं। अब तुम भक्त तो नहीं ठहरे। तुम हो बच्चे। बच्चे तो याद भी करते हैं। लिखते भी हैं कि बाबा, हम सम्मुख सुनने चाहते हैं। निमंत्रण देते रहते हैं – बाबा, आपसे सम्मुख सुनें। अब सिवाए ब्रह्मा मुख के डायरेक्ट सुनना तो मुश्किल है। बच्चे जानते हैं – बाबा कल्प पहले माफिक आये हुए हैं। ब्रह्मा मुख वंशावली ब्राह्मण कुल भूषण नाम कितना अच्छा दिया हुआ है। ब्रह्माकुमार-कुमारियां तो बहुत हैं। उन्हों को ज्ञान मिला हुआ है। परमपिता परमात्मा जो ज्ञान का सागर है, उनको ही सुख का सागर भी कहा जाता है। गाया भी हुआ है – दु:ख हर्ता, सुख कर्ता। वह तो शिवबाबा ही है। नाम कितने भिन्न-भिन्न दिये हैं। गायन तो बहुत हैं ना। गाते हैं – हर-हर अर्थात् दु:ख को हरो। भगवान् के लिये ही गाते हैं। परन्तु भगवान् का पता न होने कारण ब्रह्मा, विष्णु, शंकर के लिये कह देते हैं। देव-देव महादेव। शिव को भूल शंकर के लिये कह देते – हर-हर महादेव……..। ब्रह्मा और विष्णु को महादेव नहीं कहेंगे। वह तो दोनों स्थूल पार्ट में आते हैं। शंकर सूक्ष्मवतन में ही रहता है। दु:ख हरने वाला पतित-पावन तो एक निराकार भगवान् है। शंकर को पतित-पावन नहीं कहेंगे। महिमा सारी एक की है। विष्णु के दो रूप लक्ष्मी-नारायण वा राधे-कृष्ण हैं जिनका अलग-अलग जन्म होता है। विष्णु अवतरण भी गाया हुआ है। चतुर्भुज दिखाते हैं। परन्तु यह किसको पता नहीं है कि पहले लक्ष्मी-नारायण स्वर्ग में प्रिन्स-प्रिन्सेज राधे-कृष्ण बनते हैं। यह तुम ही जानते हो। यह भी जानते हो – माया का बड़ा भारी तूफान सूक्ष्म में आता है। माया भुला देती है। बहुत तूफान लाती है। कोई भी बात खुली दिल से बच्चे पूछते रहें तो प्रश्न का उत्तर मिल सकता है। तूफान भी अनेक प्रकार के आते हैं। स्वप्न, छी-छी विकल्प अनेक प्रकार के आते हैं। आंधी, तूफान को कहा जाता है। अब यह ब्रह्मा तो नामीग्रामी है। बाकी भी बाबा ने प्रवेश किया है तो बहुत नामीग्रामी हो गया है। जैसा-जैसा मनुष्यों का देश वैसा वेष भी होता है। अभी तो देखो कोई लूले-लंगड़े, कोई कुब्जा, किसकी आंख नहीं होगी। वहाँ तो नैचुरल ब्युटी है क्योंकि पांच तत्व भी सतोप्रधान हैं। तो यह ज्ञान सम्मुख सुनने के लिये बच्चियां बुलाती है। गीतों में भी कुछ न कुछ ठीक है। जैसे देवता धर्म प्राय:लोप है फिर भी मन्दिर यादगार तो हैं ना। यादगार सभी धर्म वालों का है। यह तुम बच्चे ही समझते हो बरोबर ऊंच ते ऊंच एक निराकार भगवान् को कहा जाता है। उनका ही गायन है और है भी संगमयुग, जब आत्मायें और परमात्मा मिलते हैं। आत्मायें तो बहुत हैं ना। वृद्धि होती रहेगी। अभी तुम बच्चे सम्मुख सुन रहे हो औरों की भी दिल होती है सम्मुख सुनें। यहाँ आ नहीं सकते। बांधेलियां हैं। और कोई भी सतसंगों में जाने लिये कभी किसको मना नहीं करते। बम्बई में गीता सुनाते हैं, कोई भी धर्म वाले जा सकते हैं। फीस नहीं है। भिन्न-भिन्न गुरू पास जाते रहते हैं कि कहाँ से सहज रास्ता मिल जाये। मुक्ति और जीवन्मुक्ति के रास्ते का किसको पता नहीं है इसलिये बहुत ढूँढते हैं। यहाँ तो कोई गुरू-गोसाई हैं नहीं। ब्रह्माकुमार और कुमारियां, बस। महात्मा कोई नहीं। जैसे तुम हो वैसे यह (दादा) है। फ़र्क कुछ नहीं है। वेष आदि में कोई फ़र्क नहीं है। यह शॉल आदि भी कभी उतार देता हूँ। परन्तु ड्रामानुसार यह जैसे आफीशल ड्रेस है। ड्रेस को तो देखना नहीं है। बुद्धि शिवबाबा तरफ चली जाती है। और सभी मनुष्य शरीर को देखेंगे। तुम अपने शरीर को भी भूलते हो और इस दादा के शरीर को भी भूलते हो। देही-अभिमानी बनना है। इनके शरीर को नहीं याद करना है। शिवबाबा इन द्वारा हमको राजयोग सिखलाते हैं। वही नॉलेजफुल, त्रिकालदर्शी है। आदि-मध्य-अन्त का राज़ इस समय बैठ सुनाते हैं।

बुढ़ियों आदि के लिये भी बड़ा सहज है। उन स्कूलों में तो बुढ़ियायें कुछ समझ न सकें। यह सबके लिये सहज है। बाप सिर्फ कहते हैं – मुझे याद करो। जैसे मनुष्य मरने पर होते हैं तो मंत्र देते हैं – राम-राम कहो, यह कहो। बहुत करके वानप्रस्थ के बाद ही गुरू का मंत्र लेते हैं। परन्तु अभी तो बाप कहते हैं – सारी पुरानी दुनिया का विनाश होना है। बुढ़े, जवान, छोटे – सबकी वानप्रस्थ अवस्था है। ऐसे तो और कोई कह न सकें। कहेंगे – सबका मौत लाने तैयार हुए हो क्या? हाँ, मौत तो सबका होना ही है। कोई-कोई कहते हैं – बाबा, यहाँ अजुन कब तक रहेंगे, हम जल्दी जावें? यहाँ बहुत दु:ख है। आगे चलकर भी ऐसे-ऐसे कहेंगे। बाबा कहते हैं – ऐसे क्यों कहते हो? अरे, इस समय तो तुम ईश्वर के सम्मुख हो। फिर तो डिग्री डिग्रेड हो जायेगी। जाकर दैवी सन्तान बनेंगे। अभी यह शीतल गोद अच्छी है। वहाँ (स्वर्ग) तो होगा ही शीतल। परन्तु यहाँ तो तत्ते (गर्म) को भी शीतल बनाया जाता है तो वह अच्छा रहता है। ऐसे नहीं कि अभी जल्दी करो। अभी तो हम ऊंच ते ऊंच हैं। नामाचार ही सारा इस समय का है। देलवाड़ा मन्दिर भी इस समय का है। सारी सृष्टि के आत्माओं की दिल लेने वाला है बाप। दिलवाला मन्दिर सभी के लिये है। आत्मा शरीर द्वारा पुकारती है – बाबा, आओ, आकर हमको नया बनाओ, हम पुराने हो गये हैं। आत्मा और शरीर दोनों ही पुराने हैं। आत्मा बुद्धिहीन अंधी बनी है। मनुष्य को थोड़ेही अंधा कहा जाता है। आंखे तो हैं ना। परन्तु बुद्धि अंधी है। आत्मा में जो बुद्धि है याद करने की वह बिल्कुल भूल गई है। तो गोपिकायें कोई कहाँ, कोई कहाँ से बुलाती है। बांधेली गोपिकायें छोटे-छोटे गांव से बुलाती रहती हैं। बाप समझाते हैं – बच्चे, सतयुग में गृहस्थ आश्रम था, पवित्र था। अभी तो विष के लिये कितना हैरान करते हैं। यह नहीं समझते कि यहाँ निर्विकारी बनाया जाता है। निर्विकारी बनने से फिर क्या बनेंगे – वह भी पता नहीं। सन्यासी भी पवित्र बनने लिये भागते हैं। परन्तु उनको यह पता नहीं कि हम पवित्र बन पवित्र दुनिया में जायेंगे। इन बातों को वह मानते ही नहीं। इस समय इतना दु:ख है जो समझते हैं इससे मुक्ति अथवा मोक्ष अच्छा है। बाप ने समझाया है – ड्रामा में मोक्ष किसको मिलता ही नहीं है। अभी तुम जानते हो। बाप कहते हैं – सिर्फ इतना याद करो कि 84 जन्म पूरे हुए, अब बाबा आया है लेने लिये। बाप को याद नहीं करेंगे तो तूफान बहुत लगेंगे। विवेक भी कहता है – निरन्तर याद करना बड़ा मुश्किल है। भल बाबा कहते हैं – तुम कर्मयोगी हो। परन्तु देखा गया है कर्म करने के समय याद भूल जाती है। ऐसी अवस्था को पाने में टाइम लगता है। इसमें बहुत पुरुषार्थ करना होता है। कॉलेज में पुरुषार्थी बच्चों को रात-दिन पढ़ने की हॉबी रहती है। कोशिश करते हैं गवर्मेन्ट से स्कॉलरशिप ले लेवें। बहुत माथा मारते हैं। फिर बड़े खुश होते हैं। यहाँ भी बाप कहते हैं – तुम अच्छी रीति पढ़कर स्कॉलरशिप लो। पहले-पहले तख्तनशीन बन जाओ। दौड़ी लगानी चाहिये। तुम जानते हो – अभी बाप सम्मुख बैठे हैं। डायरेक्ट इस रथ में बैठ बच्चे-बच्चे कह बात करते हैं। ब्रह्मा का तन तो मुकरर है। बाप कहते हैं – मैं आत्माओं से बात करता हूँ। तुम पुकारते थे – बाबा, आओ। अब मैं आया हूँ। तुम आत्मायें भी निराकार हो। हम भी निराकार हैं। तुम भक्ति मार्ग में भिन्न-भिन्न नाम, रूप, देश, काल धारण कर याद करते आये हो। अब सम्मुख तुमसे बात कर रहा हूँ। तुमको तो अपने शरीर का आधार है। हमको यह लोन लेना पड़ता है। बाप बच्चों को कहते हैं – अब यह पुराना चोला छोड़ना है। नाटक पूरा हुआ, अब निरन्तर बाप को याद करने की कोशिश करो। अगर और कुछ याद पड़ता रहेगा तो फिर सजायें खानी पड़ेगी। जितना हो सके औरों की याद निकाल दो। यात्रा पर जाते हैं तो बुद्धि में वही याद रहती है। बस, हम श्रीनाथ द्वारे जाते हैं। तुम्हारी है सच्ची रूहानी यात्रा। आत्मा परमात्मा के साथ योग लगाती है। फिर शरीर निर्वाह अर्थ कर्म करने लिये यहाँ आते-जाते हैं। कहाँ भी हो याद रहनी चाहिये। तुम जानते हो भगवान् सर्वव्यापी नहीं, वह तो बाप है और बाप से तो वर्सा मिलता है। सर्वव्यापी कहने से कोई मतलब ही नहीं निकलता। बाप को तो वर्सा देना होता है। उनको यह आश नहीं रहती कि मुझे वर्सा मिलना है। आश रहेगी – बच्चों को वर्सा देना है। इस बाप की भी दिल में है – हमको वर्सा देना है। बाप और बच्चों का सम्बन्ध है। बच्चों को वर्सा लेना है, बाप को देना है। बाप फिर क्या लेंगे! उनको देना होता है। सच्ची आत्मा पर साहेब राज़ी होता है तो कितना सच्चा बनना चाहिये। परन्तु सभी बच्चे हो ना तो वर्सा देने वाले बाप को याद करना चाहिये। कच्चे बच्चों को याद नहीं रहता है। शरीर निर्वाह अर्थ भल कर्म करो फिर फुर्सत के समय बाप को याद करो। याद की यात्रा का रजिस्टर तुम्हारा ठीक होता जायेगा तो खुशी रहेगी। मनुष्य को जो आदत पड़ती है वह वृद्धि को पाती है। बुद्धि में रहना चाहिये हमारे 84 जन्म पूरे हुए। अब नाटक पूरा हुआ। अभी हम जाते हैं अपने घर इसलिये बाप कहते हैं – मुझे याद करो। गीता में भी दो बार मन्मनाभव लिखा हुआ है। कुछ-कुछ बातें आटे में लून हैं।

अन्य धर्म वालों के कोई चित्र आदि नहीं रहते हैं। तुम्हारे चित्र हैं। ब्रह्मा का भी अजमेर में चित्र है। ब्राह्मणों में भी बहुत प्रकार के हैं। भिन्न-भिन्न नाम रखे हुए हैं। भाषायें देखो कितनी हैं! बच्चे जानते हैं – हमारी राजधानी में एक ही भाषा होगी। वहाँ की भाषा ही और है। संस्कृत आदि नहीं होती है। बच्चियां वहाँ की भाषा आदि सुनाती थी। अब तुम बच्चों को खुशी रहनी चाहिये। हम राजधानी स्थापन कर रहे हैं। फिर वहाँ अपनी भाषा होगी। यहाँ की भाषायें वहाँ नहीं हो सकती। ड्रामा की नूँध अनुसार फिर वही अपने महल आदि बनायेंगे। कल्प पहले मुआफिक। यहाँ यह ब्रिटिश गवर्मेन्ट ने न्यु देहली बनाई ना। तुम जानते हो हम देहली नाम नहीं रखेंगे। यह पुरानी दुनिया तो खत्म होनी है। हमको नये ते नई दुनिया चाहिये। वहाँ तो हीरे-जवाहरों के महल बनेंगे। अभी तो वह महल नहीं हैं। बुद्धि कहती है हम बहुत फर्स्टक्लास महल बनायेंगे। यह तो छी-छी दुनिया है। ऐसी-ऐसी आपस में बातें करनी चाहिये। बहन जी, भाई जी हम तो जायेंगे फिर आकर अपनी राजधानी सम्भालेंगे। ऐसे लिबास पहनेंगे। आगे जेवर आदि सब सच्चे पहनते थे। लक्ष्मी-नारायण के मन्दिर में कितने जेवर आदि होंगे। शिव का मन्दिर क्या होगा? शिव का लिंग भी हीरों का बनाते हैं। यह भी समझने की बातें हैं। हमारे शिवबाबा के मन्दिर को बरोबर मुसलमानों ने आकर लूटा है। जो भक्ति मार्ग के शुरू में बनाया था। तुम जानते हो द्वापरयुग से शिवबाबा के मन्दिर बने हैं। आपेही पूज्य से फिर पुजारी बन जाते हैं। पहले-पहले सोमनाथ का मन्दिर बना है। सोमरस कहा जाता है नॉलेज को। नॉलेज देने वाला बाप है जिससे तुम धनवान बनते हो। फिर उसी धन से तुम बाप का मन्दिर बनाते हो। पूजा भी तो होगी ना। घर-घर में मन्दिर बनाते हैं। तुम जानते हो जब भक्ति मार्ग शुरू होगा तो फिर हम पुजारी बन मूर्ति आदि बनायेंगे। तुम बच्चे जानते हो – हम अभी आशिक बने हैं माशूक परमात्मा के, उनसे वर्सा लेने लिये। वह विकार के लिये आशिक होते हैं। यह फिर आत्मा परमात्मा माशूक की आशिक होती है। देखते हो – सभी भक्त उनको याद करते हैं। उस माशूक की महिमा बड़ी भारी है! आशिक जो पतित बन गये हैं उन्हों को पावन बनाते हैं। आत्मा ही पतित, आत्मा ही पावन बनती है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) स्कॉलरशिप लेने के लिये अच्छी रीति पढ़ना है, तख्तनशीन बनने की दौड़ लगानी है। कर्म करते याद में रहना है।

2) हम रूहानी यात्रा पर हैं, इसलिये और सबकी याद बुद्धि से निकाल बाप की याद में निरन्तर रहना है। याद का रजिस्टर ठीक रखना है।

वरदान:- रूहानियत की शक्ति द्वारा दूर रहने वाली आत्माओं को समीपता का अनुभव कराने वाले मा. सर्वशक्तिमान भव
जैसे साइन्स के साधनों द्वारा दूर की हर वस्तु समीप अनुभव होती है, ऐसे दिव्य बुद्धि द्वारा दूर की वस्तु समीप अनुभव कर सकते हो। जैसे साथ रहने वाली आत्माओं को स्पष्ट देखते, बोलते, सहयोग देते और लेते हो, ऐसे रूहानियत की शक्ति द्वारा दूर रहने वाली आत्माओं को समीपता का अनुभव करा सकते हो। सिर्फ इसके लिए मास्टर सर्वशक्तिमान, सम्पन्न और सम्पूर्ण स्थिति में स्थित रहो और संकल्प शक्ति को स्वच्छ बनाओ।
स्लोगन:- अपने हर संकल्प, बोल और कर्म द्वारा औरों को प्रेरणा देने वाले ही प्रेरणामूर्त हैं।

TODAY MURLI 20 July 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 20 July 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 19 July 2017 :- Click Here

20/07/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you must never become tired of studying. Be tireless. To be tireless means to reach the karmateet stage.
Question: What have you children promised and why?
Answer: You have promised: I will never cause sorrow for anyone. I will show everyone the path to happiness.
Question: Which children are sustained by the yagya?
Answer: Those who consider themselves to be trustees, that is, those who completely surrender themselves from their hearts. They stay in a household, they carry on with their business, but are trustees. Then, it is as though they eat from Shiv Baba’s treasure store.
Song: You are the Mother and the Father.

Om shanti. The children have found the Father and they say from their experience that, definitely, no one else can change them from thorns into flowers. Bharat was the land of angels, that is, of divine flowers. It has now become the forest of thorns. What you children hear now are elevated versions. It is the highest-on-high Father who speaks them to you. Everything about Him is elevated. He is the most elevated Ocean of Happiness, the most elevated Ocean of Knowledge and the most elevated Ocean of Peace. You children now understand very well that souls were previously thorns in every respect. You used to cause sorrow for one another through every sense organ. You now promise that you will not cause sorrow for anyone through your sense organs. Just as the Father is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness, so you children must also become the same. You must not cause sorrow for anyone. Only show everyone the path to the land of happiness. Whose instructions are all of these Brahma Kumars and Kumaris following? They are following shrimat (elevated instructions). The instructions of Brahma are remembered. In fact, people call all of them gurus; they even say, Guru Brahma, Guru Vishnu. However, a guru cannot be called God. They are called deities. They cannot be called the Mother and Father either. Baba has explained that one receives an inheritance of temporary happiness from a lokik mother and father. Even though they receive that, they remember the parlokik Mother and Father; they do not remember Brahma, Vishnu or Shankar. They cannot be called the Mother and Father; they are the residents of the subtle region. People say to them: Salutations to the deity Brahma and the deity Vishnu. None of these children can call anyone else their Mother and Father. Even in heaven, not everyone calls Lakshmi and Narayan their mother and father. It is sung of the parlokik Mother and Father: You are our Mother and Father, we are Your children. Mostly they ask for blessings and for mercy. You children now understand how the unlimited Father gives blessings, that is, how He has mercy. He does not say: May you have a long lifespan, or may you have a long life. The Father comes and teaches easy Raja Yoga and knowledge. Many on the path of devotion give blessings and mercy to one another. No one except the Supreme Father can have very good vision, the vision of mercy. It is not that by having a vision one can become a deity. No, this here, is a school. One studies in a school. You now know that the incorporeal One has entered this corporeal body. Here, there is a mother, a father and the Grandfather, and so this is a family. This is a Godly family. Such a huge school has to be a little distance away from the town. Here, too, we are so far from the town. There is so much silence because we want peace. We have to return to the land of peace. You now understand what is known as the land of peace. A soul is an embodiment of peace. One cannot say that the mind wants peace, for the mind and the intellect are in the soul. The soul is separate from the body. The nose and the ears etc. do not need peace; the soul needs peace. A whole part is recorded in each soul and it emerges when that soul receives a body. The entire play is recorded in the soul. Such a tiny soul is filled with such a huge part! When he receives a body, he plays his part. You now understand this. Definitely, the souls of the deity religion have parts of 84 births recorded in them. You now understand this as well. You will not understand it in the golden age. It is only at this time that it is said: “The invaluable life like a diamond”, because you have now become Godly children. You say “Mama” and “Baba”. In ignorance, you used to sing, “You are our Mother and Father”. You didn’t even know whose praise that was. You are claiming the inheritance of unlimited happiness in a practical way. You now understand that, while studying the scriptures for birth after birth, you continued to descend. That too is fixed in the drama; you have to perform devotion. Neither will devotion change nor will the knowledge change. There is a lot of paraphernalia of devotion. There are countless Vedas and scriptures; if you were to make a list , it would be quite a long one. People do so many things in the world. There are so many gatherings etc. The Father now says: Children, you have become tired by doing devotion for half a cycle. There is no question of getting tired in this study. In fact, there is even more happiness because there is an income here. When you are earning an income, there should be no drowsiness or yawning. Laziness comes when dharna is weak and there is no recognition of the value of knowledge. There is a lot of income to be earned by staying in remembrance of the Father. You must not get tired in this. The conscience says that you must definitely be tireless. By making effort you must become tireless, which means that you attain your karmateet stage. Now it depends on whatever effort you make. The rosary is so small. Many subjects will be created. The Father continues to inspire you to make effort. He says: Follow the Mother and the Father. There are countless children. You are adopted children of Prajapita Brahma. You are not adoptedchildren of Shiv Baba; you souls are already the children of Shiv Baba. You also used to speak of “Shiv Baba” in ignorance, but no one knows who Shiv Baba is or what His part is. Shiv Baba says: My part is also fixed in the drama. It is not that I can do whatever I want. Whatever My part is in the drama, that will be played. There is no question of asking for blessings or mercy. The Father knows how to sustain the children, which is with knowledge and yoga. Your sustenance is knowledge and yoga. I am called Baba because I am the Creator. Surely, they would call Me “Baba”.

[wp_ad_camp_3]

 

Even when people have lokik parents, they remember the parlokik Mother and Father. You now understand that the parlokik Mother and Father has come and is teaching us Raja Yoga. Yes, everyone has to work for the livelihood of his body. It has also been explained to you about the precautions you need to take. Although you must not eat anything impure, you have to live in a household. You have surrendered yourself to Baba. Have the consciousness: Baba, all of this is Yours. When you move along while considering everything as belonging to Baba, then, whatever you eat is from the yagya. We are trustees. We eat from the yagya and that is satoguni. If you are not surrendered and do not consider yourself to be a trustee, then that food is not from the yagya. First of all, consider yourself to be a trustee. People even say that God gives everyone everything. They worship the deities, thinking that they will receive things from them or from the gurus. Although they think this, it is only the one Father who gives to everyone. He is the one Bestower for all. On the path of devotion they all insure themselves with God. They think that they will receive the return of it in the next birth. You also insure everything with Baba. You receive these teachings for the next birth. You receive the fruit of good actions. People surrender to God. To surrender to God means to insure yourself. That is indirect insurance, whereas this is direct insurance. People do not know the Supreme Father, the Supreme Soul, and so they cannot surrender everything to Him. Here, you surrender everything to Him. The Father says: Consider yourself to be a trustee. Have the consciousness that you are eating from Shiv Baba’s yagya. You must take care of everything. Tamoguni (impure) bhog cannot be offered. People offer pure bhog in temples. Only Vaishnavs (those with a pure diet) offer bhog. All are vicious; how can there be a viceless, elevated body here? Lakshmi and Narayan have elevated bodies. Those who indulge in vice are said to be degraded. You children now understand that you are sitting in front of the Mother and Father, the One to whom you have been calling out for half the cycle. Those who perform devotion for half a cycle will come here. They do intense devotion. You children must take up knowledge very intensely. Don’t be content with just a little. So many points are given in order to explain. The old women cannot understand as much. Baba says to them: Simply ask others whether they have the introduction of the parlokik Father. Tell them: Remember that Father. You are devotees and He is God. God speaks: If you remember Me, you will come to My land of liberation, whereas Krishna would say: You will come to my world of Paradise. First of all, you have to go to the land of nirvana, and so you must definitely remember the incorporeal Father. Krishna is a bodily being. To remember him means to remember the perishable body of the five elements. That is the path of devotion. You children now understand about the expansion of devotion. You receive the inheritance of heaven through this knowledge in a second. After the day comes the night, and after the night it is the day. Devotion is the night in which people stumble. This is why the expression is used of it being the dark night. People also know about the day of Brahma and the night of Brahma. Why do they not say this for Vishnu? Only you Brahmins receive this knowledge at this time, and this is why Brahma is remembered. Brahma is the one who knows the day and the night. Brahma knows that the night is now over and that the day is about to begin. It is the day and night of Brahmins. These things have to be understood. Vishnu would not speak about his day and night. However, you can say: We claim an elevated reward through this knowledge, and then this knowledge disappears. These scriptures are fixed in the drama. These same scriptures will be created again. It is said that they have continued since the beginning of time. It is not that the scriptures will emerge from the earth. The Father comes and speaks the truth. The same paraphernalia of the path of devotion will emerge again. Remind the old mothers as well: The highest-on-high Shiv Baba lives in the supreme region, where souls reside. That is the highest place, the soul world, and Brahma, Vishnu and Shankar are in the subtle region. After that, if you come down to the corporeal region, the kingdom of Lakshmi and Narayan comes first. That is the new creation which the Father is creating. He is purifying the impure ones. People even say: O Purifier, come! Surely, the entire world therefore must be of those who are impure at this time. He comes and purifies those people. Those who make effort will come to the pure world. The main thing is to remember your Father and the home. Tell everyone: O souls, you now have to return home. You souls will be taken back home. Everyone’s body will be finished. In terms of souls, all are brothers and in terms of bodies, all are brothers and sisters. These are very sweet things. You are sitting here in a hostel. You are the residents of this place. Students live in a hostel so that they do not become influenced by the bad company outside. Here, you have the company of viceless ones. Achcha. Today is the day for Brahma bhojan. Shiv Baba does not eat. He is Abhogta (beyond physical experience). Deities like the food of Brahmins, because they become deities through the food of Brahmins. So the food of Brahmins has such great importance. Food has so much effect. If you receive food cooked by strong yogis, your intellect becomes very good. Yogis are needed who stay in remembrance of Shiv Baba throughout the day, who spin the discus and prepare food at the same time. Many remain pure. A widow, a mother or a kumari may be pure, but she should also be yogi. There would be great progress for you if you were to eat food prepared by yogis. Five to seven such children are needed. As you progress further, your stage will become like that. You will receive a lot of help in yoga. You children should be such that you prepare food while staying in yoga. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Follow the Mother and Father and sustain everyone with knowledge and yoga. Maintain yourself with that sustenance. Become intense in knowledge and yoga.
  2. Eat food prepared by those who are pure and yogi. In order to purify the intellect, take great precautions about your diet.
Blessing: May you be master knowledge-full and observe your part of every moment of the drama while being stable in the trikaldarshi stage.
Be stable in the trikaldarshi stage and look at what you were, what you are and what you will become. We have special part s fixed for us in the drama. Experience clearly that yesterday you were deities and that tomorrow you will become deities again. We have received the knowledge of all three aspects of time. For instance, in any country, when you stand at the highest point and look down on a whole city, you enjoy it very much. Similarly, the confluence age is the top point. Stand at this point, be knowledge-full and observe every part and you will have a lot of pleasure.
Slogan: Those who are constantly yog-yukt automatically receive everyone’s co-operation.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

Read Bk Murli 18 July 2017 :- Click Here

Brahma kumaris murli 20 July 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 20 July 2017

July 2017 all murlis :- Click Here

To Read Murli 19 July 2017 :- Click Here

20/07/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हें पढ़ाई में कभी थकना नहीं है, अथक बनना है, अथक बनना अर्थात् कर्मातीत अवस्था को पाना”
प्रश्नः- तुम बच्चों ने अभी कौन सी प्रतिज्ञा की है और क्यों?
उत्तर:- तुमने प्रतिज्ञा की है कि किसको भी दु:ख नहीं देंगे। सबको सुख का रास्ता बतायेंगे।
प्रश्नः- किन बच्चों की पालना यज्ञ से होती है?
उत्तर:- जो अपने को ट्रस्टी समझते हैं अर्थात् पूरा दिल से सब कुछ सरेन्डर करते हैं। वह रहते भी गृहस्थ व्यवहार में हैं, धन्धा भी करते हैं लेकिन ट्रस्टी हैं। तो जैसे शिवबाबा के खजाने से खाते हैं।
गीत:- तुम्हीं हो माता…

ओम् शान्ति। बच्चों को बाप मिला है और अब अनुभव से कहते हैं कि बरोबर काँटे से फूल और कोई बना नहीं सकते। भारत दैवी फूलों का परिस्तान था। अभी काँटों का जंगल है। तुम बच्चे अभी जो सुनते हो वह महावाक्य सुनते हो, यह सुनाने वाला ऊंच ते ऊंच बाप है ना। उनकी हर एक बात महान है। महान सुख का सागर है। महान ज्ञान का सागर है। महान शान्ति का सागर है। बच्चे अच्छी रीति समझ चुके हैं, आगे हर बात में काँटे थे। हर कर्मेन्द्रियों से एक दो को दु:ख ही देते थे। अब हम खुद ही कर्मेन्द्रियों से किसको दु:ख न देने की प्रतिज्ञा करते हैं। जैसे बाप दु:ख हर्ता सुख कर्ता है वैसे बच्चों को भी बनना है। कोई को भी दु:ख नहीं देना है, हर एक को सुखधाम का ही रास्ता बताना है। यह सब ब्रह्माकुमार कुमारियाँ किसकी मत पर चलते हैं? श्रीमत पर। ब्रह्मा की मत गाई हुई है। यूँ तो सभी को कह देते हैं – गुरू ब्रह्मा, गुरू विष्णु, परन्तु गुरू को फिर भगवान नहीं कहा जाता। उन्हों को देवता कहा जाता है। मात-पिता भी उनको नहीं कह सकते। बाबा ने समझाया है लौकिक मात-पिता से तो अल्पकाल सुख का वर्सा मिलता है। वह मिलते हुए भी फिर पारलौकिक मात-पिता को याद करते हैं। ब्रह्मा विष्णु शंकर को तो नहीं याद करेंगे। उनको मात-पिता नहीं कहेंगे। वे तो सूक्ष्मवतन वासी हैं ना। उनको ब्रह्मा देवताए नम:, विष्णु देवताए नम: कहते हैं। इतने सब बच्चे किसको मात-पिता कह न सकें। स्वर्ग में लक्ष्मी नारायण को भी सब मात-पिता नहीं कह सकते। यह पारलौकिक मात-पिता के लिए गाते हैं। तुम मात-पिता हम बालक तेरे… बहुत करके आशीर्वाद, कृपा बहुत मांगते हैं। अभी तुम बच्चे जानते हो बेहद का बाप कैसे आशीर्वाद अथवा कृपा करते हैं। ऐसे तो नहीं कहते हैं आयुश्वान भव, चिरन्जीवी भव। बाप तो आकर सहज राजयोग और ज्ञान की शिक्षा देते हैं। आशीर्वाद वा कृपा भक्ति मार्ग में ढेर देते हैं एक दो को। अच्छी दृष्टि रखना, दया दृष्टि रखना सो तो परमपिता परमात्मा के सिवाए कोई रख न सके। ऐसे नहीं कोई देखने से देवता बन जाते हैं। नहीं, यहाँ तो यह पाठशाला है। पाठशाला में पढ़ना होता है।

अभी तुम जानते हो वही निराकार इस साकार तन में आये हैं। मम्मा, बाबा, दादा यह कुटुम्ब हुआ ना, ईश्वरीय परिवार। इतनी बड़ी पाठशाला थोड़ा शहर से दूर होनी चाहिए। यहाँ भी देखो शहर से कितना दूर हैं। कितना सन्नाटा लगा हुआ है क्योंकि हमें चाहिए ही शान्ति। हमको जाना है शान्तिधाम। शान्तिधाम किसको कहा जाता है, यह अब तुम समझते हो। आत्मा तो है ही शान्त स्वरूप। मन को शान्ति चाहिए, ऐसे नहीं कह सकते। आत्मा में ही मन-बुद्धि है ना। आत्मा शरीर अलग-अलग है। नाक, कान आदि को शान्ति नहीं चाहिए। शान्ति चाहिए आत्मा को। आत्मा में ही सारा पार्ट भरा हुआ है, वह इमर्ज तब होता है जब शरीर मिले। आत्मा में ही सारा खेल भरा हुआ है। इतनी छोटी सी आत्मा में कितना पार्ट है। शरीर मिलने से ही वह पार्ट बजायेगी। यह भी अभी तुम जानते हो। बरोबर देवी-देवता धर्म वाली आत्मा में ही 84 जन्मों का पार्ट है। यह अभी तुम जानते हो, सतयुग में नहीं जानेंगे। इस समय ही गाया जाता है हीरे जैसा जन्म अमोलक.. क्योंकि तुम अभी ईश्वरीय औलाद बने हो। मम्मा बाबा कहते हो ना। अज्ञानकाल में जो गाते थे – तुम मात पिता.. यह किसकी महिमा है। यह भी नहीं जानते थे। तुम प्रैक्टिकल में अभी सुख घनेरे का वर्सा ले रहे हो। अभी समझते हो कि जन्म-जन्मान्तर शास्त्र पढ़ते भी नीचे ही उतरते आये। यह भी ड्रामा में नूँध है। भक्ति करनी ही है, न भक्ति बदलनी है, न ज्ञान बदलना है। भक्ति की बड़ी सामग्री है। वेद शास्त्र अथाह हैं। लिस्ट निकालो तो बड़ी लिस्ट हो जायेगी। सारी दुनिया में क्या-क्या कर रहे हैं। कितने मेले मलाखड़े आदि होते हैं। अब बाप कहते हैं बच्चे आधाकल्प भक्ति करते-करते थक गये हो। इस पढ़ाई में तो थकने की बात ही नहीं, इसमें तो और ही खुशी होती है क्योंकि यहाँ है कमाई। कमाई में कभी उबासी वा झुटके नहीं आने चाहिए। धारणा कच्ची है, नॉलेज की वैल्यु का पता नहीं है तो सुस्ती आती है। बाप की याद में बैठने से भी बहुत कमाई होती है। इसमें थकना नहीं है। विवेक कहता है तुमको अथक जरूर बनना है। पुरुषार्थ करते अथक अर्थात् कर्मातीत अवस्था को पाना है। अब जो पुरुषार्थ करेंगे। माला कितनी छोटी है। प्रजा तो बहुत बनती है। बाप तो पुरुषार्थ कराते रहते हैं। कहते हैं फालो फादर मदर। बच्चे तो ढेर हैं ना। प्रजापिता ब्रह्मा के भी एडाप्टेड बच्चे हैं ना। शिवबाबा के एडाप्टेड बच्चे नहीं कहेंगे। शिवबाबा के बच्चे अर्थात् आत्मायें तो हो ही। अज्ञानकाल में भी शिवबाबा कहते रहते हैं। परन्तु शिवबाबा कौन है? उनका क्या पार्ट है? यह कोई भी नहीं जानते हैं। शिवबाबा कहते हैं मेरा भी ड्रामा में पार्ट नूँधा हुआ है। ऐसे नहीं जो चाहूँ सो करूँ। हमारा भी जो पार्ट होगा वही चलेगा ना। इसमें कृपा वा आशीर्वाद माँगने की बात ही नहीं है। बाप जानते हैं कि बच्चों की पालना कैसे करनी है – ज्ञान और योग से। तुम्हारी पालना है ही ज्ञान और योग की। मुझे कहते ही हैं बाबा क्योंकि रचयिता ठहरा ना। तो जरूर बाबा कहेंगे। लौकिक माँ बाप होते हुए भी पारलौकिक बाप को याद करते हैं। अभी तुम जानते हो पारलौकिक मात-पिता ऐसे हुए हैं। हमको राजयोग सिखा रहे हैं। हाँ, शरीर निर्वाह तो सबको करना ही है। परहेज के लिए यह समझाया जाता है। अपवित्र कोई वस्तु नहीं खानी है। बाकी घर में तो रहना ही है। सरेन्डर हो गया ना। बाबा यह सब कुछ आपका है। बाबा का सब कुछ समझकर चलते हैं तो वह जो खाते हैं सो यज्ञ का ही है। हम ट्रस्टी हैं। हम यज्ञ का खाते हैं, वो तो सतोगुणी ही है। अगर अर्पणमय नहीं हैं, अपने को ट्रस्टी नहीं समझते तो फिर वह यज्ञ का नहीं हुआ। पहले तो अपने को ट्रस्टी समझना है। मनुष्य कहते भी हैं कि ईश्वर ही सबको देने वाला है। देवताओं की पूजा करते हैं। समझते हैं उन्हों द्वारा मिलता है। गुरू से मिलता है, ऐसे भी समझते हैं। परन्तु देने वाला सबको एक ही बाप है। सबका दाता एक है। भक्ति मार्ग में हर एक ईश्वर के पास ही इनश्योर करते हैं। समझते हैं दूसरे जन्म में मिलेगा। तुम भी सब कुछ बाबा के पास इनश्योर करते हो। यह शिक्षा मिलती है, दूसरे जन्म के लिए। अच्छे कर्मो का फल मिलता है। ईश्वर अर्पणम् करते हैं। ईश्वर को अर्पण अर्थात् इनश्योर करते हैं। वह है इनडायरेक्ट और यह है डायरेक्ट। वह परमपिता परमात्मा को जानते नहीं तो सब कुछ अर्पण नहीं कर सकते। यहाँ तो सब कुछ अर्पण करते हैं। बाप कहते हैं अपने को ट्रस्टी समझो। तुम जो खाते हो वह समझो हम शिवबाबा के यज्ञ से खाते हैं। सम्भाल भी करनी होती है। कोई तमोगुणी भोग लगा न सके। मन्दिर में भी शुद्ध भोग लगता है। वह वैष्णव ही रहते हैं। विकारी तो सभी हैं। निर्विकारी श्रेष्ठ शरीर यहाँ आये कहाँ से? लक्ष्मी-नारायण के श्रेष्ठ शरीर हैं ना। भ्रष्टाचारी विकारी को कहा जाता है। अभी तुम बच्चे समझते हो हम मात-पिता के सम्मुख बैठे हैं, जिनको आधाकल्प पुकारा है। आधाकल्प भक्ति करने वाले ही यहाँ आयेंगे। बहुत तीखी भक्ति करते हैं। तुम बच्चों को फिर तीखा ज्ञान उठाना है। थोड़े में ही राज़ी नहीं होना है। कितनी प्वाइंट्स दी जाती हैं समझाने के लिए। बुढ़ियाँ तो इतना समझ न सकें। उनको फिर बाबा कहते हैं तुम किसको सिर्फ यह समझाओ कि पारलौकिक बाप का परिचय है तो उस बाप को याद करो। तुम भक्त हो, वह भगवान है। भगवानुवाच – तुम मेरे को याद करो तो तुम मेरे मुक्तिधाम में आ जायेंगे। कृष्ण कहेंगे – मेरे वैकुण्ठधाम में आ जायेंगे। पहले तो निर्वाणधाम में जाना है, तो जरूर निराकारी बाप को याद करना पड़े। कृष्ण भी देहधारी हो गया, उनको याद करना गोया 5 तत्वों के विनाशी शरीर को याद करना। यह तो भक्ति मार्ग हो गया। अब तुम बच्चे जान गये हो कि भक्ति का कितना विस्तार है। सेकेण्ड में इस ज्ञान से स्वर्ग का वर्सा मिल जाता है। दिन के बाद रात और रात के बाद दिन। भक्ति है रात। ठोकरें खाते हैं ना इसलिए नाम ही रखा है अन्धियारी रात। जानते भी हैं ब्रह्मा का दिन, ब्रह्मा की रात। विष्णु के लिए क्यों नहीं कहते। यह ज्ञान अभी मिलता ही तुम ब्राह्मणों को है, इसलिए ब्रह्मा के लिए गाया हुआ है। ब्रह्मा ही दिन और रात को जानते हैं। ब्रह्मा जानते हैं अब रात पूरी हुई, दिन होना है। ब्राह्मणों का दिन और रात। यह समझने की बात है ना। विष्णु ऐसे नहीं कहेंगे हमारी रात और दिन। तुम कह सकते हो – इस ज्ञान से ही हम इतनी ऊंची प्रालब्ध पाते हैं, फिर यह ज्ञान गुम हो जाता है। ड्रामा में यह शास्त्र आदि भी नूँधे हुए हैं। फिर वही शास्त्र बनेंगे, जिसके लिए कहते हैं परम्परा से चले आते हैं। ऐसे नहीं कि धरती से शास्त्र निकल आयेंगे। बाप आकर सत्य बतलाते हैं। यह भक्ति मार्ग की सामग्री फिर से वही निकलेगी। बूढ़ी माताओं को यह भी याद करा दो – ऊंचे ते ऊंच है शिवबाबा जो परमधाम में रहते हैं। जहाँ आत्मायें रहती हैं, वह है ऊंचा ठाँव मूलवतन फिर सूक्ष्मवतन में है ब्रह्मा विष्णु शंकर। फिर स्थूल वतन में आओ तो पहले लक्ष्मी-नारायण का राज्य है, जो नई रचना बाप रच रहे हैं, पतितों को पावन बना रहे हैं। कहते भी हैं पतित-पावन आओ तो जरूर सारी सृष्टि पतितों की है उनको आकर पावन बनाते हैं। जो मेहनत करेंगे वही पावन दुनिया में आयेंगे। मूल बात है अपने बाप और घर को याद करना। सबको यही कहो हे आत्मायें अब घर जाना है, तुम आत्माओं को ले जाना है। शरीर तो सबके खत्म हो जायेंगे। आत्मा के नाते सब भाई-भाई हैं। ब्रदर्स हैं फिर शरीर के नाते भाई-बहन हैं। बहुत मीठी-मीठी बातें हैं।

[wp_ad_camp_3]

 

तुम यहाँ हॉस्टल में बैठे हो। तुम यहाँ के रहवासी हो। हॉस्टल में इसलिए रखते हैं कि बाहर का खराब संग न लगे। यहाँ तुमको निर्विकारियों का संग है। अच्छा आज तो ब्रह्मा भोजन है। शिवबाबा तो खाते नहीं हैं। वह तो अभोक्ता है। देवताओं को ब्राह्मणों का भोजन अच्छा लगता है क्योंकि इस ब्राह्मणों के भोजन से देवता बनते हैं। तो ब्राह्मणों के भोजन का कितना महत्व है। उनका बहुत असर पड़ता है। तुम्हें पक्के योगियों का भोजन मिले तो बुद्धि बहुत अच्छी हो जाए। सारा दिन शिवबाबा की याद में रहकर कोई स्वदर्शन चक्र फिराते भोजन बनाये, ऐसे योगी चाहिए। पवित्र तो बहुत होते हैं। विधवा माता अथवा कुमारियाँ भी पवित्र होती हैं। परन्तु योगिन भी हो। योगिन का भोजन मिले तो तुम्हारी बहुत उन्नति हो जाए। 5-7 ऐसे चाहिए। आगे चलकर तुम्हारी ऐसी अवस्था हो जायेगी। योग में बहुत मदद मिलेगी। ऐसे बच्चे हों जो योग में रहकर भोजन बनायें। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) मात पिता को फालो करते हुए ज्ञान-योग से सबकी पालना करनी है। उसी पालना में रहना है। ज्ञान योग में तीखा जाना है।

2) पवित्र और योगिन के हाथ का भोजन खाना है। बुद्धि को शुद्ध बनाने के लिए भोजन की बहुत परहेज रखनी है।

वरदान:- त्रिकालदर्शी स्थिति में रह ड्रामा के हर समय के पार्ट को देखने वाले मास्टर नॉलेजफुल भव 
त्रिकालदर्शी स्थिति में स्थित रहकर देखो कि हम क्या थे, क्या हैं और क्या होंगे….इस ड्रामा में हमारा विशेष पार्ट नूंधा हुआ है। इतना स्पष्ट अनुभव हो कि कल हम देवता थे और फिर कल बनने वाले हैं। हमें तीनों कालों की नॉलेज मिल गई। जैसे कोई भी देश में जब टॉप प्वाइंट पर खड़े होकर सारे शहर को देखते हैं तो मजा आता है ऐसे संगमयुग टॉप पाइंट है, इस पर खड़े होकर नॉलेजफुल बन हर पार्ट को देखो तो बहुत मजा आयेगा।
स्लोगन:- जो सदा योगयुक्त हैं उन्हें सर्व का सहयोग स्वत: प्राप्त होता है।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 18 July 2017 :- Click Here

Font Resize