20 january ki murli

TODAY MURLI 20 JANUARY 2021 DAILY MURLI (English)

20/01/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, this confluence age is the most elevated age of the whole cycle. In this age you children become satopradhan by having remembrance of the Saccharine.
Question: What is the reason why many types of question arise and what is the solution to all of them?
Answer: Doubt is created when there is body consciousness and many types of question arise because of that. Baba says: When you remain busy in the business I have given you of becoming pure from impure and making others pure, all questions will finish.
Song: Having attained You, we have attained the whole world. The earth, the sky and everything else belong to us.

Om shanti. You sweetest, spiritual children heard the song. Who said: Sweetest, spiritual children? It must definitely be the spiritual Father who says this. You sweetest, spiritual children are now sitting personally in front of the Father and He is explaining with a lot of love. You now understand that no human being in this world, no one but the spiritual Father, can give everyone peace and happiness and liberate everyone from sorrow. That is why they continue to remember the Father at times of sorrow. You children are sitting personally in front of the Father. You understand that Baba is making you worthy of the land of happiness. You have come personally in front of the Father who is making you into the masters of the land of constant happiness. You now understand that there is a vast difference between listening personally and listening to this at a distance. You come to Madhuban to meet face to face. Madhuban is very well known. They have shown an image of Krishna in Madhuban. However, Krishna doesn’t exist there. You children understand that this requires effort. You repeatedly have to consider yourselves to be souls. I, this soul, am claiming my inheritance from the Father. The Father only comes once throughout the whole cycle. This confluence age is the most beautiful age of the whole cycle; it is called the most elevated age. This is the confluence age in which all human beings become most elevated. At present, all human souls are tamopradhan and they are now becoming satopradhan. When you are satopradhan, you are elevated. When human beings become tamopradhan, they become degraded. So the Father now comes and explains personally to you souls. It is the soul, not the body, that plays the whole part. It is now in your intellects that you souls are originally residents of the incorporeal world, the land of peace. No one knows this nor is anyone else able to explain it. The locks on your intellects have now opened. You understand that souls really do reside in the supreme abode. That is the incorporeal world and this is the corporeal world. All of us souls are actors here. We are the ones who come to play our parts first and then all the others come down, numberwise. Not all the actors come at the same time. All different types of actor continue to come. All of you only come together when the play comes to an end. You souls have now been given the recognition that you are originally residents of the land of peace and that you then come down here to play your parts. The Father doesn’t come for the whole time to play His part. Only we play our parts continuously and become tamopradhan from satopradhan. You children now experience great pleasure listening to Him directly. You don’t experience as much pleasure in just reading the murli, because you are here in person in front of Baba. You children understand that Bharat was the place of gods and goddesses and that it is not that any more. You can see their images, because it definitely was that. We were the residents of that place. We were deities at first. You would remember your part, or would you forget that? The Father says: You played your parts here. This is the drama. The new world definitely becomes the old world. When you souls first go down from up above, you go into the golden age. You have all of these things in your intellects at this time. You were the masters of the world, emperors and empresses. You had a kingdom, but that kingdom no longer exists. You are now studying how to rule the kingdom. There are no advisers there. There is no need for anyone to give advice there because they become the most elevated of all by following shrimat now. Then they don’t need to take advice from anyone else. If they were to take advice from anyone else, it would be understood that their own intellects were weak. The shrimat that you receive at this time will also remain in the golden age. You now understand that, there was at first the kingdom of deities for half the cycle. You souls are now becoming refreshed. No one, except the Supreme Soul, can give this knowledge to souls. You children now have to become soul conscious. You came from the land of peace and have come into “talkie” here. You cannot perform actions without becoming “talkie“. These matters have to be understood. Just as the Father has all the knowledge, so you souls also have this knowledge. The soul says: I leave this body and take another according to my sanskars. There definitely is rebirth. Souls continue to play whatever parts they have received. Souls continue to take rebirth according to their sanskars. The degree of purity of souls continues to decrease day by day. The word “impure” is used from the copper age onwards. Even then, there is definitely a little difference. When you build a new home, there will definitely be some difference after a month. You children now understand that Baba is giving you the inheritance. The Father says: I have come to give you children your inheritance. Each of you will claim a status according to the effort you make. There is no difference as far as the Father is concerned. He knows that He is teaching souls. Souls have a right to claim their inheritance from the Father. There is no vision of male or female here. All of you are children and are claiming your inheritance from the Father. All souls are brothers. The Father is teaching you and giving you your inheritance. Only the Father says to the spiritual children: Lovely, sweetest, long-lost and now-found children, you have played your parts for a long time and have now finally met Me in order to claim your inheritance. This too is fixed in the drama. The parts are fixed from the beginning. You actors continue to act as you play your parts. Souls are imperishable and have imperishable parts recorded in them. Souls change from pure to impure as they continue to change their bodies. Souls become impure. In the golden age, souls are pure. This is called the impure world. When it was the kingdom of deities, it was the viceless world. It is not that any more. This is a play. The new world becomes the old world and the old world becomes the new world. The land of happiness is now being established for you and all the rest of the souls will go and reside in the land of liberation. The unlimited play is now coming to an end and all souls will return home like a swarm of mosquitoes. What would be the value of the souls that come at this time, into the impure world? Only those who first go into the new world have value. You know that the world that was new has now once again become old. In the new world, there were just we deities. There is no mention of sorrow there. Here, there is infinite sorrow. The Father comes and liberates you from the world of sorrow. This old world definitely has to change. You understand that we truly were the masters of the golden age and that we have become like this after taking 84 births. The Father says: Now remember Me and you will become the masters of heaven! So, why should we not have the faith that we are souls and remember the Father? Some effort does have to be made. It is not that easy to claim a kingdom. You have to remember the Father. It is the wonder of Maya that she makes you forget again and again. A method has to be created for this. Don’t think that remembrance will become firm just by belonging to Me. What other effort would you then make? No; for as long as you live, you have to make effort and continue to drink the nectar of knowledge. You understand that this is your final birth. Renounce the consciousness of your body and become soul conscious. You have to live at home with your families and definitely make effort. Simply have the faith that each of you is a soul and remember the Father! “You are the Mother and You are the Father.” All of that praise is from the path of devotion. You simply have to remember the one Alpha. This is the only sweet Saccharine. Renounce everything else and remember the one Saccharine (Father). You souls have now become tamopradhan. In order to make your souls satopradhan, stay on the pilgrimage of remembrance. Tell everyone: Claim your inheritance of happiness from the Father! Only in the golden age is there happiness. It is Baba who establishes the land of happiness. It is very easy to remember the Father, but there is a lot of opposition from Maya. Therefore, try to remember Me, the Father, and the alloy will be removed. “Liberation-in-life in a second has been remembered. We souls are the children of the spiritual Father. We are residents of that place. We will then have to repeat our parts. Our parts are the longest in this drama. We also receive the most happiness. The Father says: Your deity religion is one that gives a lot of happiness. Everyone else will automatically go to the land of peace after settling their accounts. Why should we go into too much expansion? The Father comes to take everyone back home. He takes everyone back like a swarm of mosquitoes. In the golden age, there are very few. All of this is fixed in the drama. The bodies will be destroyed and the souls, which are imperishable, will settle their accounts and return home. It isn’t that souls will be purified by being put in a fire. Souls have to become pure with remembrance, the fire of yoga. This is the fire of yoga. However, they then sat and made up a play in which Sita walked through fire. No one is going to be purified in a fire. The Father explains: All of you Sitas are impure at this time. You are in the kingdom of Ravan. You now have to become pure by having remembrance of the one Father. There is only one Rama. By hearing the word “fire” they think that Sita walked through fire. There is so much difference between the fire of yoga and other fires. Souls will only become pure from impure by having yoga with the Supreme Father, the Supreme Soul; there is the difference of day and night. In hell, all Sitas are in the jail of Ravan, in the cottage of sorrow. The happiness here is like the droppings of a crow. In comparison to that, the happiness in the golden age is infinite. You souls have now become engaged to Shiva, the Bridegroom, and so you souls are females. Shiv Baba says: Simply remember Me and you will become pure. You will go to the land of peace and then to the land of happiness. Therefore, you children should fill your aprons with jewels of knowledge. You mustn’t have any type of doubt. When you become body conscious, many types of question arise. You don’t then carry out the business that the Father gives you. The main thing is that you have to become pure from impure. Put aside everything else! Whatever customs and systems there are in the kingdom, they will continue. Just as palaces were built, so they will then be built again. The main thing is to become pure. You call out: O Purifier! By becoming pure, you will become happy. The purest of all are the deities. You are now becoming the purest of all for 21 births. They are called pure and completely viceless. You have to follow the shrimat that the Father gives you. There is no need to have any thoughts about this. First of all, become pure from impure! People call out: “O Purifier!”, but they don’t understand anything at all. They don’t even understand who the Purifier is. This is the impure world and that is the pure world. The main thing is to become pure. They don’t understand at all who will make them pure. They call out to the Purifier, but when you tell them that they are impure, they become upset. No one considers himself to be vicious. They say: Everyone lived in a household. Lakshmi and Narayan also had children. Children there are born through the power of yoga. They have forgotten that. That world is called the viceless world of heaven. That is the Temple of Shiva. The Father says: There isn’t a single pure person in the impure world. This Father is the Father, Teacher and Satguru who grants salvation to everyone. Elsewhere, when a guru departs, his throne is given to his son. How could he take anyone into salvation? Only the One grants salvation to everyone. In the golden age, there are just the deities. All other souls will have gone to the land of peace. They are liberated from the kingdom of Ravan. The Father purifies everyone and takes them all back home. No one becomes impure from pure instantly. They all continue to come down, numberwise. From being satopradhan, they have to go through the stages of sato, rajo and tamo. The cycle of 84 births sits in your intellects. You are now like lighthouses. You understand the knowledge of this cycle. You understand how this cycle turns. You children now have to show the path to everyone else. All are boats. You are the pilots who show everyone the path. Tell everyone: Remember the land of peace and the land of happiness and forget the iron age, the land of sorrow. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. For as long as you live, continue to drink the nectar of knowledge. Fill your aprons with the jewels of knowledge. Don’t raise any questions by having doubts.
  2. Purify the soul, Sita, in the fire of yoga. Don’t go into too much expansion about anything, but make effort to become soul conscious. Remember the land of peace and the land of happiness.
Blessing: May you be a jewel of contentment who remains stable in the soul-conscious stage and always plays a special part.
Every act of the children who are special actors is special. None of their actions are ordinary. Ordinary souls will perform any action while being body conscious, whereas special souls will perform every action in soul consciousness. Those who perform actions while being stable in soul consciousness always remain content themselves and also make others content, and so they automatically receive the blessing of being jewels of contentment.
Slogan: Be a soul who experiments and continue to increase all your treasures with the experimentation of yoga.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 20 JANUARY 2021 : AAJ KI MURLI

20-01-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – सारे कल्प का यह है सर्वोत्तम कल्याणकारी संगमयुग, इसमें तुम बच्चे याद की सैक्रीन से सतोप्रधान बनते हो”
प्रश्नः- अनेक प्रकार के प्रश्नों की उत्पत्ति का कारण तथा उन सबका निवारण क्या है?
उत्तर:- जब देह-अभिमान में आते हो तो संशय पैदा होता है और संशय उठने से ही अनेक प्रश्नों की उत्पत्ति हो जाती है। बाबा कहते मैंने तुम बच्चों को जो धन्धा दिया है – पतित से पावन बनो और बनाओ, इस धन्धे में रहने से सब प्रश्न खत्म हो जायेंगे।
गीत:- तुम्हें पाके हमने जहान पा लिया है….

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चों ने गीत सुना। यह किसने कहा मीठे-मीठे रूहानी बच्चे? जरूर रूहानी बाप ही कह सकते हैं। मीठे-मीठे रूहानी बच्चे अभी सम्मुख बैठे हैं और बाप बहुत प्यार से समझा रहे हैं। अब तुम जानते हो सिवाए रूहानी बाप के सर्व को सुख-शान्ति देने वा सर्व को इस दु:ख से लिबरेट करने वाला, दुनिया भर में और कोई मनुष्य हो नहीं सकता इसलिए दु:ख में बाप को याद करते रहते हैं। तुम बच्चे सम्मुख बैठे हो। जानते हो बाबा हमको सुखधाम के लायक बना रहे हैं। सदा सुखधाम का मालिक बनाने वाले बाप के सम्मुख आये हैं। अभी समझते हो सम्मुख सुनने और दूर रहकर सुनने में बहुत फ़र्क है। मधुबन में सम्मुख आते हो। मधुबन मशहूर है। मधुबन में उन्होंने कृष्ण का चित्र दिखाया है। परन्तु कृष्ण है नहीं। तुम बच्चे जानते हो – इसमें मेहनत लगती है। अपने को घड़ी-घड़ी आत्मा निश्चय करना है। मैं आत्मा बाप से वर्सा ले रही हूँ। बाप एक ही समय आता है सारे चक्र में। यह कल्प का सुहावना संगमयुग है। इसका नाम रखा है पुरुषोत्तम। यही संगमयुग है जिसमें सभी मनुष्य मात्र उत्तम बनते हैं। अभी तो सभी मनुष्यमात्र की आत्मायें तमोप्रधान हैं सो फिर सतोप्रधान बनती हैं। सतोप्रधान हैं तो उत्तम हैं। तमोप्रधान होने से मनुष्य भी कनिष्ट बनते हैं। तो अब बाप आत्माओं को सम्मुख बैठ समझाते हैं। सारा पार्ट आत्मा ही बजाती है, न कि शरीर। तुम्हारी बुद्धि में आ गया है कि हम आत्मा असुल में निराकारी दुनिया वा शान्तिधाम में रहने वाले हैं। यह किसको भी पता नहीं है। न खुद समझा सकते हैं। तुम्हारी बुद्धि का अब ताला खुला है। तुम समझते हो बरोबर आत्मायें परमधाम में रहती हैं। वह है इनकारपोरियल वर्ल्ड। यह है कारपोरियल वर्ल्ड। यहाँ हम सब आत्मायें, एक्टर्स पार्टधारी हैं। पहले-पहले हम पार्ट बजाने आते हैं, फिर नम्बरवार आते जाते हैं। सभी एक्टर्स इकट्ठे नहीं आ जाते। भिन्न-भिन्न प्रकार के एक्टर्स आते जाते हैं। सब इकट्ठे तब होते जब नाटक पूरा होता है। अभी तुमको पहचान मिली है, हम आत्मा असुल शान्तिधाम की रहवासी हैं, यहाँ आते हैं पार्ट बजाने। बाप सारा समय पार्ट बजाने नहीं आते हैं। हम ही पार्ट बजाते-बजाते सतोप्रधान से तमोप्रधान बन जाते हैं। अभी तुम बच्चों को सम्मुख सुनने से बड़ा मजा आता है। इतना मजा मुरली पढ़ने से नहीं आता। यहाँ सम्मुख हो ना।

तुम बच्चे समझते हो कि भारत गॉड-गॉडेज का स्थान था। अभी नहीं है। चित्र देखते हो, था जरूर। हम वहाँ के रहवासी थे – पहले-पहले हम देवता थे, अपने पार्ट को तो याद करेंगे कि भूल जायेंगे। बाप कहते हैं तुमने यहाँ यह पार्ट बजाया। यह ड्रामा है। नई दुनिया सो फिर जरूर पुरानी दुनिया होती है। पहले-पहले ऊपर से जो आत्मायें आती हैं, वो गोल्डन एज में आती हैं। यह सब बातें अभी तुम्हारी बुद्धि में हैं। तुम विश्व के मालिक महाराजा-महारानी थे। तुम्हारी राजधानी थी। अभी तो राजधानी है नहीं। अभी तुम सीख रहे हो, हम राजाई कैसे चलायेंगे! वहाँ वजीर होते नहीं। राय देने वाले की दरकार नहीं। वह तो श्रीमत द्वारा श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ बन जाते हैं। फिर इनको दूसरे कोई से राय लेने की दरकार नहीं है। अगर कोई से राय ले तो समझा जायेगा उनकी बुद्धि कमजोर है। अभी जो श्रीमत मिलती है, वह सतयुग में भी कायम रहती है। अभी तुम समझते हो पहले-पहले बरोबर इन देवी-देवताओं का आधाकल्प राज्य था। अब तुम्हारी आत्मा रिफ्रेश हो रही है। यह नॉलेज परमात्मा के सिवाए कोई भी आत्माओं को दे न सके।

अभी तुम बच्चों को देही-अभिमानी बनना है। शान्तिधाम से आकर यहाँ तुम टॉकी बने हो। टॉकी होने बिगर कर्म हो न सके। यह बड़ी समझने की बातें हैं। जैसे बाप में सारा ज्ञान है वैसे तुम्हारी आत्मा में भी ज्ञान है। आत्मा कहती है – हम एक शरीर छोड़ संस्कार अनुसार फिर दूसरा शरीर लेता हूँ। पुनर्जन्म भी जरूर होता है। आत्मा को जो भी पार्ट मिला हुआ है, वह बजाती रहती है। संस्कारों अनुसार दूसरा जन्म लेते रहते हैं। आत्मा की दिन-प्रतिदिन प्योरिटी की डिग्री कम होती जाती है। पतित अक्षर द्वापर से काम में लाते हैं। फिर भी थोड़ा सा फ़र्क जरूर पड़ता है। तुम नया मकान बनाओ, एक मास के बाद कुछ जरूर फ़र्क पड़ेगा। अभी तुम बच्चे समझते हो बाबा हमको वर्सा दे रहे हैं। बाप कहते हैं हम आये हैं तुम बच्चों को वर्सा देने। जितना जो पुरुषार्थ करेगा उतना पद पायेगा। बाप के पास कोई फ़र्क नहीं है। बाप जानते हैं हम आत्माओं को पढ़ाते हैं। आत्मा का हक है बाप से वर्सा लेने का, इसमें मेल-फीमेल की दृष्टि यहाँ नहीं रहती। तुम सब बच्चे हो। बाप से वर्सा ले रहे हो। सभी आत्मायें ब्रदर्स हैं, जिनको बाप पढ़ाते हैं, वर्सा देते हैं। बाप ही रूहानी बच्चों से बात करते हैं – हे लाडले मीठे सिकीलधे बच्चों, तुम बहुत समय पार्ट बजाते-बजाते अब फिर आकर मिले हो, अपना वर्सा लेने। यह भी ड्रामा में नूंध है। शुरू से लेकर पार्ट नूँधा हुआ है। तुम एक्टर्स पार्ट बजाते एक्ट करते रहते हो। आत्मा अविनाशी है, इसमें अविनाशी पार्ट नूँधा हुआ है। शरीर तो बदलता रहता है। बाकी आत्मा सिर्फ पवित्र से अपवित्र बनती है। पतित बनती है, सतयुग में है पावन। इसको कहा जाता है पतित दुनिया। जब देवताओं का राज्य था तो वाइसलेस वर्ल्ड थी। अभी नहीं है। यह खेल है ना। नई दुनिया सो पुरानी दुनिया, पुरानी दुनिया फिर नई दुनिया। अभी सुखधाम स्थापन होता है, बाकी सब आत्मायें मुक्तिधाम में रहेंगी। अभी यह बेहद का नाटक आकर पूरा हुआ है। सब आत्मायें मच्छरों मिसल जायेंगी। इस समय कोई भी आत्मा आये तो पतित दुनिया में उनकी क्या वैल्यु होगी। वैल्यु उनकी है जो पहले-पहले नई दुनिया में आते हैं। तुम जानते हो जो नई दुनिया थी वह फिर पुरानी बनी है। नई दुनिया में हम देवी-देवता थे। वहाँ दु:ख का नाम नहीं था। यहाँ तो अथाह दु:ख हैं। बाप आकर दु:ख की दुनिया से लिबरेट करते हैं। यह पुरानी दुनिया बदलनी जरूर है। तुम समझते हो बरोबर हम सतयुग के मालिक थे। फिर 84 जन्मों के बाद ऐसे बने हैं। अब फिर बाप कहते हैं मुझे याद करो तो तुम स्वर्ग के मालिक बनेंगे। तो हम क्यों न अपने को आत्मा निश्चय करें और बाप को याद करें। कुछ तो मेहनत करनी होगी ना। राजाई पाना कोई सहज थोड़ेही है। बाप को याद करना है। यह माया का वण्डर है जो घड़ी-घड़ी तुमको भुला देती है। उसके लिए उपाय रचना चाहिए। ऐसे नहीं, मेरा बनने से याद जम जायेगी। बाकी पुरुषार्थ क्या करेंगे! नहीं। जब तक जीना है पुरुषार्थ करना है। ज्ञान अमृत पीते रहना है। यह भी समझते हो हमारा यह अन्तिम जन्म है। इस शरीर का भान छोड़ देही-अभिमानी बनना है। गृहस्थ व्यवहार में भी रहना है। पुरुषार्थ जरूर करना है। सिर्फ अपने को आत्मा निश्चय कर बाप को याद करो। त्वमेव माताश्च पिता….. यह सब है भक्ति मार्ग की महिमा। तुमको सिर्फ एक अल्फ को याद करना है। एक ही मीठी सैक्रीन है। और सब बातें छोड़ एक सैक्रीन (बाप) को याद करो। अभी तुम्हारी आत्मा तमोप्रधान बनी है, उनको सतोप्रधान बनाने के लिए याद की यात्रा में रहो। सबको यही बताओ बाप से सुख का वर्सा लो। सुख होता ही है सतयुग में। सुखधाम स्थापन करने वाला बाबा है। बाप को याद करना है बहुत सहज। परन्तु माया का आपोजीशन बहुत है इसलिए कोशिश कर मुझ बाप को याद करो तो खाद निकल जायेगी। सेकण्ड में जीवनमुक्ति गाया जाता है। हम आत्मा रूहानी बाप के बच्चे हैं। वहाँ के रहने वाले हैं। फिर हमको अपना पार्ट रिपीट करना है। इस ड्रामा के अन्दर सबसे जास्ती हमारा पार्ट है। सुख भी सबसे जास्ती हमको मिलेगा। बाप कहते हैं तुम्हारा देवी-देवता धर्म बहुत सुख देने वाला है और बाकी सब शान्तिधाम में ऑटोमेटिकली चले जायेंगे हिसाब-किताब चुक्तू कर। जास्ती विस्तार में हम क्यों जायें। बाप आते ही हैं सबको वापिस ले जाने। मच्छरों सदृश्य सबको ले जाते हैं। सतयुग में बहुत थोड़े होते हैं। यह सारी ड्रामा में नूँध है। शरीर खत्म हो जायेंगे। आत्मा जो अविनाशी है वह हिसाब-किताब चुक्तू कर चली जायेगी। ऐसे नहीं कि आत्मा आग में पड़ने से पवित्र होगी। आत्मा को याद रूपी योग अग्नि से ही पवित्र होना है। योग की अग्नि है यह। उन्होंने फिर नाटक बैठ बनाये हैं। सीता आग से पार हुई। आग से कोई थोड़ेही पावन होना है। बाप समझाते हैं तुम सब सीतायें इस समय पतित हो। रावण के राज्य में हो। अब एक बाप की याद से तुमको पावन बनना है। राम एक ही है। अग्नि अक्षर सुनने से समझते हैं – आग से पार हुई। कहाँ योग अग्नि, कहाँ वह। आत्मा परमपिता परमात्मा से योग रखने से ही पतित से पावन होगी। रात-दिन का फ़र्क है। हेल में सब सीतायें रावण की जेल में शोक वाटिका में हैं। यहाँ का सुख तो काग विष्टा के समान है। भेंट की जाती है। स्वर्ग के सुख तो अथाह हैं।

तुम आत्माओं की अभी शिव साजन के साथ सगाई हुई है। तो आत्मा फीमेल हुई ना! शिवबाबा कहते हैं सिर्फ मुझे याद करो तो तुम पावन बन जायेंगे। शान्तिधाम जाए फिर सुखधाम में आ जायेंगे। तो बच्चों को ज्ञान रत्नों से झोली भरनी चाहिए। कोई भी प्रकार का संशय नहीं ले आना चाहिए। देह-अभिमान में आने से फिर अनेक प्रकार के प्रश्न उठते हैं। फिर बाप जो धन्धा देते हैं वह करते नहीं हैं। मूल बात है हमको पतित से पावन बनना है। दूसरी बातें छोड़ देनी चाहिए। राजधानी की जैसी रस्म-रिवाज होगी वह चलेगी। जैसे महल बनाये होंगे वैसे बनायेंगे। मूल बात है पवित्र बनने की। बुलाते भी हैं हे पतित-पावन….. पावन बनने से सुखी बन जायेंगे। सबसे पावन हैं देवी-देवतायें।

अभी तुम 21 जन्म के लिए सर्वोत्तम पावन बनते हो। उसको कहा जाता है सम्पूर्ण निर्विकारी पावन। तो बाप जो श्रीमत देते हैं उस पर चलना चाहिए। कोई भी संकल्प उठाने की दरकार नहीं। पहले हम पतित से पावन तो बनें। पुकारते भी हैं – हे पतित-पावन…. परन्तु समझते कुछ भी नहीं। यह भी नहीं जानते पतित-पावन कौन है? यह है पतित दुनिया, वह है पावन दुनिया। मुख्य बात है ही पावन बनने की। पावन कौन बनायेंगे? यह कुछ भी पता नहीं। पतित-पावन कह बुलाते हैं परन्तु बोलो, तुम पतित हो तो बिगड़ पड़ेंगे। अपने को विकारी कोई भी समझते नहीं। कहते हैं गृहस्थी में तो सब थे। राधे-कृष्ण, लक्ष्मी-नारायण को भी बच्चे थे ना। वहाँ योगबल से बच्चे पैदा होते हैं, यह भूल गये हैं। उनको वाइसलेस वर्ल्ड स्वर्ग कहा जाता है। वह है शिवालय। बाप कहते हैं पतित दुनिया में एक भी पावन नहीं। यह बाप तो बाप, टीचर और सतगुरू है जो सबको सद्गति देते हैं। वह तो एक गुरू चला गया तो फिर बच्चे को गद्दी देंगे। अब वह कैसे सद्गति में ले जायेंगे? सर्व का सद्गति दाता है ही एक। सतयुग में सिर्फ देवी-देवता होते हैं। बाकी इतनी सब आत्मायें शान्तिधाम में चली जायेंगी। रावण राज्य से छूट जाते हैं। बाप सबको पवित्र बनाकर ले जाते हैं। पावन से फिर फट से कोई पतित नहीं बनते हैं। नम्बरवार उतरते हैं, सतोप्रधान से सतो, रजो, तमो….. तुम्हारी बुद्धि में 84 जन्मों का चक्र बैठा है। तुम जैसे अब लाइट हाउस हो। ज्ञान से इस चक्र को जान गये हो कि यह चक्र कैसे फिरता है। अभी तुम बच्चों को और सबको रास्ता बताना है। सब नईयाएं हैं, तुम पाइलेट हो, रास्ता बताने वाले। सबको बोलो आप शान्तिधाम, सुखधाम को याद करो। कलियुग दु:खधाम को भूल जाओ। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) जब तक जीना है ज्ञान अमृत पीते रहना है। अपनी झोली ज्ञान रत्नों से भरनी है। संशय में आकर कोई प्रश्न नहीं उठाने हैं।

2) योग अग्नि से आत्मा रूपी सीता को पावन बनाना है। किसी बात के विस्तार में जास्ती न जाकर देही-अभिमानी बनने की मेहनत करनी है। शान्तिधाम और सुखधाम को याद करना है।

वरदान:- देही-अभिमानी स्थिति में स्थित हो सदा विशेष पार्ट बजाने वाले सन्तुष्टमणि भव
जो बच्चे विशेष पार्टधारी हैं उनकी हर एक्ट विशेष होती, कोई भी कर्म साधारण नहीं होता। साधारण आत्मा कोई भी कर्म देह-अभिमानी होकर करेगी और विशेष आत्मा देही-अभिमानी बनकर करेगी। जो देही-अभिमानी स्थिति में स्थित रहकर कर्म करते हैं वे स्वयं भी सदा सन्तुष्ट रहते हैं और दूसरों को भी सन्तुष्ट करते हैं इसलिए उन्हें सन्तुष्टमणि का वरदान स्वत: प्राप्त हो जाता है।
स्लोगन:- प्रयोगी आत्मा बन योग के प्रयोग से सर्व खजानों को बढ़ाते चलो।

TODAY MURLI 20 JANUARY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 20 January 2020

20/01/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, if you want to become charitable souls, check your charts to see that you are not committing any sins and that you are accumulating truth in your account.
Question: What is one of the greatest sins?
Answer: To have bad vision for anyone is one of the greatest sins. You children who are becoming charitable must never have bad (vicious) vision for anyone. Check yourself to see how long you stay in yoga and whether you are committing any sins. In order to claim a high status, take care never to have vicious vision for anyone and that you completely follow the shrimat (elevated directions) that the Father gives you.
Song: Look at your face in the mirror of your heart. 

Om shanti. The unlimited Father says to His children: Examine yourselves within! People normally know how much sin and how much charity they have performed throughout their lives. Therefore, look at your chart daily and ask yourself: How many sins have I committed and how much charity have I performed? Did I upset anyone? Every human being can understand for himself what he has done in his life: how many sins have been committed and how much has been donated. When people go on pilgrimages, they make donations and perform charity. They try not to commit any sin. Therefore, the Father asks you children: How many sins have you committed and how much charity have you performed? You children now have to become charitable souls. Therefore, you must not commit any sins. There are innumerable kinds of sin. To have bad vision for anyone is also a sin. Bad vision is vision filled with vice; that is the worst of all. You must never have vicious vision for anyone. Normally, it is man and wife whose vision is vicious. Even kumars and kumaris sometimes have vicious vision. The Father says: You must not have any vicious vision. Otherwise, you would have to be called monkeys. There is the example of Narad. He asked if he could marry Lakshmi. You also say that you will marry Lakshmi, that you will become Lakshmi or Narayan from an ordinary woman or man. The Father says: Ask your own heart to what extent you have become a charitable soul. Are you committing any more sin? To what extent do you stay in yoga? It is because you children have recognised the Father that you are sitting here. No one else in the world recognises Baba, or that this is BapDada. You Brahmin children know that the Supreme Father, the Supreme Soul, enters Brahma and gives you the treasure of the imperishable jewels of knowledge. The wealth that human beings have is perishable. That is what they donate. Those are just like stones, whereas these are jewels of knowledge. Only the Father, the Ocean of Knowledge, has these jewels. Each jewel is worth hundreds of thousands of rupees. You have to imbibe the jewels of knowledge given by the Father, the Jeweller, and then donate them. To the extent that you take these jewels and donate them to others, you accordingly claim a high status. The Father explains: Examine yourself and see how many sins you have committed. Check that you are not still committing any sin. You must not have the slightest impure vision for anyone. Continue to follow completely the shrimat that the Father gives you. You have to be cautious. Storms of Maya will come but you must never act sinfully with your senses. If your vision becomes impure towards someone, you must never stand in front of that one, but walk away instantly. One can instantly tell when someone has vicious vision. If you want to claim a high status, you must remain very cautious. If you have impure vision you will become crippled. You have to follow the shrimat that the Father gives you. Only you children recognise the Father. For instance, if Baba goes somewhere, only you children would know that BapDada has arrived. Many other people look at Him, but they don’t know anything. Therefore, if they ask who it is, tell them, “It is BapDada.” Each of you should have one of these badges. Tell them: Shiv Baba donates imperishable jewels of knowledge to us through this Dada. This is spiritual knowledge. The spiritual Father, the Father of all spirits, sits here and gives us this knowledge. These are the versions of God Shiva. In the Gita, it has been incorrectly written that God Krishna speaks. Only Shiva is called the Ocean of Knowledge, the Purifier. Only through knowledge is there salvation. These are the imperishable jewels of knowledge. Only the one Father is the Bestower of Salvation. You should remember these words very well. You children understand that you know the Father and the Father also understands that He knows you children. The Father would say: All of you are My children. However, not all of you know Me. If it is in someone’s fortune, he would know Him later. If Baba goes somewhere, and people ask who it is, it would definitely be with a pure motive that they ask. Just tell them that it is BapDada. The unlimited Father is incorporeal. Until the Father comes into the corporeal world, how can we claim the inheritance from Him? Therefore, Shiv Baba adopts us through Brahma and gives us the inheritance. This one is Prajapita Brahma and we are the Brahma Kumars and Kumaris. The One who is teaching us is the Ocean of Knowledge. We receive the inheritance from Him. This Brahma is also studying. He then changes from a Brahmin into a deity. It is so easy to explain these things. It is good to explain to anyone the significance of the badge. Tell them that Baba says: Remember Me and your sins will be absolved. You will become pure and go to the pure world. That Father is the Purifier. We are making effort to become pure. By the time destruction comes, we will have completed our studies. It is so easy to explain. When any of you are travelling, you should take some badges with you. Together with these badges, you should also have some small leaflets in which it is written: The Father comes into Bharat to establish the original eternal deity religion once again and have all the other innumerable religions destroyed in the Mahabharat War, as they were in the previous cycle, according to the dramaplan. Print two or four hundred thousand such leaflets so that you can give them to anyone. At the top, there should be the image of the Trimurti and on the other side, there should be the addresses of all the centres. You children have to be concerned about service throughout the day. You children heard in the song that you should examine your chart daily and ask yourself what your stage was like throughout the day. Baba has met many people who write an account of all day in their diary every night. They check whether they performed any bad acts. They write everything down because they think that if their biography is written in a good way, those who come later will learn from it. Only good people would write in this way. However, everyone is full of vices anyway. Here, it is not the same thing. You should check your chart daily and then send it to Baba so that you can make good progress and you will also pay attention for the future. Write everything clearly. Today, I had bad vision for someone. This happened. That happened. Baba calls those who make others unhappy deceitful. There is a burden of innumerable sins of many births on your heads. You now have to remove that burden of sins with the power of remembrance. Check yourself daily: How deceitful have I been throughout the day? To cause someone sorrow means to be deceitful; it means you have committed a sin. The Father says: Don’t be deceitful or cause sorrow for anyone. Examine yourself to see how many sins you have committed and how much charity you have performed. Show this path to anyone you meet. Tell everyone very lovingly: You have to remember the Father and become pure. Whilst living at home with your family, become as pure as a lotus flower. Although you are at the confluence age, this is still Ravan’s kingdom. Whilst living in this river of poison filled with Maya, you have to become as pure as a lotus flower. A lotus flower has many children (buds) but, in spite of that, it stays on top of the water. It is like a householder. It creates many things (various parts of the lotus are edible). This example applies to you. Remain detached from the vices. Become pure in this one birth and that will then become imperishable. The Father gives you imperishable jewels of knowledge, whereas everyone else just gives you stones. Those people only speak about devotional things. Only this One is the Purifier, the Ocean of Knowledge. Therefore, you have to love this Father so much. The Father has love for you children and you children love the Father. You should have no connection with anyone else. Stepchildren are those who don’t follow the Father’s directions fully. They follow Ravan’s dictates, and so those are not the directions of Rama. It has been Ravan’s community for the last half cycle and this is why this world is called corrupt. You now have to forget everyone else and follow the directions of the one Father. You yourself still have to check whether the directions you receive through a Brahma Kumari are right or wrong. You children have been given the understanding of what is right and what is wrong. Only when the Righteous One comes can He tell you what is right and what is wrong. The Father says: You have been listening to the scriptures for the last half cycle on the path of devotion. Now, are they right, or is what I tell you right? They say that God is omnipresent and I am telling you that I am your Father. Now judge for yourself who is right. All of this is explained to you children. You can only understand this when you become Brahmins. There are many in Ravan’s community, whereas you are very few, and that too is numberwise. Those who have impure vision for others belong to Ravan’s community. Only when their vision totally changes and becomes divine can they be considered to belong to the community of Rama. Each of you can understand for yourself what your stage is. Previously, you had none of this knowledge. Now that the Father has shown you the path, you have to see to what extent you donate these jewels of knowledge. Devotees donate perishable wealth. You now have to donate these imperishable jewels of knowledge, not perishable wealth. If you have perishable wealth, use it for this alokik service. By donating money to the impure, you too become impure. When you donate your wealth, you receive the return of that for 21 births in the new world. You have to understand all of these things. Baba keeps showing you many ways to do service. Have mercy for everyone! It is remembered that the Supreme Father, the Supreme Soul, establishes the new world through Brahma. However, no one understands the meaning of that. They say that the Supreme Soul is omnipresent. Therefore, you children should be very interested in doing service. If you benefit many, you too will benefit. Day by day, Baba is making everything very easy. This picture of the Trimurti is very good. There is Shiv Baba and there is also Prajapita Brahma. He is establishing the divine kingdom of one hundred per cent purity, peace and happiness in Bharat once again through you Prajapita Brahma Kumars and Kumaris. All of the other religions are going to be destroyed in the Mahabharat War just as they were a cycle ago. Print such leaflets and distribute them. Baba shows you such an easy path. You should also give out leaflets at the exhibitions. It is easy to explain with leaflets. The old world has to be destroyed. The new world is being established; the one original eternal deity religion is being established. All the other religions will be destroyed just as they were a cycle ago. Wherever you go, you should always have some leaflets and badges in your pocket. “Liberation in life within a second” has been remembered. Tell them: That One is the Father and this one is Dada. By remembering that Father you will claim a golden-aged deity status. There is the creation of the new world and the destruction of the old world and they will then rule their kingdom in the new world, the land of Vishnu. It is so easy! People stumble along so much on pilgrimages etc. Even Arya Samajis go stumbling (on pilgrimages) with a train full of people. That is called stumbling in the name of religion. In fact, that is stumbling in the name of irreligion. There is no need to stumble in the name of religion. You are now studying. People do so many things on the path of devotion. You children heard the song: “Look at your face in the mirror of your heart.” No one but you can see that face. You can show it to God. These are things of knowledge. You are changing from ordinary humans into deities, from sinful souls into pure, charitable souls. Other people know none of these things. No one knows how Lakshmi and Narayan became the masters of heaven. You children know everything. If your arrows strike their intellects, their boats can go across. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. If you have perishable wealth, use it in a worthwhile way for alokik service. You definitely have to donate the imperishable jewels of knowledge.
  2. Check your chart to see:
  3. a) What your stage is like,
  4. b) Whether you did anything wrong throughout the day,
  5. c) Whether you caused anyone sorrow,
  6. d) Whether you had impure vision towards anyone.
Blessing: May you be honest and trustworthy and use every treasure according to the Father’s directions for any task.
An honest and trustworthy person is someone who doesn’t use the treasures he has received from the Father for any task without His directions. If you waste your time, words, deeds, breath and thoughts in following the dictates of others or under the influence of wrong company, if you think about others instead of thinking about yourself, if you are being arrogant about something instead of having self-respect, if you follow the dictates of your own mind instead of following shrimat, you cannot then be said to be honest. You have received all these treasures to benefit the world and so to use them for that task is to be honest.
Slogan: Opposition has to be against Maya and not the divine family.

*** Om Shanti ***

Special homework to experience the avyakt stage in this avyakt month.

While experiencing newness at every moment, also put new zeal and enthusiasm into others. Dance in happiness and continue to sing songs of the Father’s virtues. While sweetening your own mouth with the toli of sweetness, also sweeten the mouths of others with sweet words, sweet sanskars and a sweet nature.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 20 JANUARY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 20 January 2020

20-01-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – पुण्य आत्मा बनना है तो अपना पोतामेल देखो कि कोई पाप तो नहीं होता है, सच का खाता जमा है?”
प्रश्नः- सबसे बड़ा पाप कौन-सा है?
उत्तर:- किसी पर भी बुरी दृष्टि रखना-यह सबसे बड़ा पाप है। तुम पुण्य आत्मा बनने वाले बच्चे किसी पर भी बुरी दृष्टि (विकारी दृष्टि) नहीं रख सकते। जाँच करनी है हम कहाँ तक योग में रहते हैं? कोई पाप तो नहीं करते हैं? ऊंच पद पाना है तो खबरदारी रखो कि ज़रा भी कुदृष्टि न हो। बाप जो श्रीमत देते हैं उस पर पूरा चलते रहो।
गीत:- मुखड़ा देख ले प्राणी….. 

ओम् शान्ति। बेहद का बाप अपने बच्चों को कहते हैं बच्चे, अपने भीतर ज़रा जाँच करो। यह तो मनुष्यों को मालूम रहता है कि हमने सारे जीवन में कितने पाप, कितने पुण्य किये हैं? रोज़ाना अपना पोतामेल देखो-कितने पाप और कितने पुण्य किये हैं? किसको रंज (नाराज़) तो नहीं किया? हर एक मनुष्य समझ सकते हैं-हमने लाइफ में क्या-क्या किया है? कितना पाप किया है, कितना दान-पुण्य आदि किया है? मनुष्य यात्रा पर जाते हैं तो दान-पुण्य करते हैं। कोशिश करके पाप नहीं करते हैं। तो बाप बच्चों से ही पूछते हैं-कितने पाप, कितने पुण्य किये हैं? अभी तुम बच्चों को पुण्य आत्मा बनना है। कोई भी पाप नहीं करना है। पाप भी अनेक प्रकार के होते हैं। कोई पर बुरी दृष्टि जाती है तो यह भी पाप है। बुरी दृष्टि होती ही है विकार की। वह है सबसे खराब। कभी भी विकार की दृष्टि नहीं जानी चाहिए। अक्सर करके स्त्री-पुरूष की तो विकार की ही दृष्टि होती है। कुमार-कुमारी की भी कहाँ न कहाँ विकार की दृष्टि उठती है। अब बाप कहते हैं यह विकार की दृष्टि नहीं होनी चाहिए। नहीं तो तुमको बन्दर कहना पड़े। नारद का मिसाल है ना। बोला हम लक्ष्मी को वर सकते हैं! तुम भी कहते हो ना हम तो लक्ष्मी को वरेंगे। नारी से लक्ष्मी, नर से नारायण बनेंगे। बाप कहते हैं अपने दिल से पूछो-कितने तक हम पुण्य आत्मा बने हैं? कोई पाप तो नहीं करते हैं? कहाँ तक योग में रहते हैं?

तुम बच्चे तो बाप को पहचानते हो तब तो यहाँ बैठे हो ना। दुनिया के मनुष्य थोड़ेही बाबा को पहचानेंगे कि यह बापदादा है। तुम ब्राह्मण बच्चे तो जानते हो परमपिता परमात्मा ब्रह्मा में प्रवेश होकर हमको अविनाशी ज्ञान रत्नों का खजाना देते हैं। मनुष्यों के पास होता है विनाशी धन। वही दान करते हैं, वह तो हैं पत्थर। यह हैं ज्ञान के रत्न। ज्ञान सागर बाप के पास ही रत्न हैं। यह एक-एक रत्न लाखों रूपयों का है। रत्नागर बाप से ज्ञान रत्न धारण कर और फिर इन रत्नों का दान करना है। जितना जो लेवे और देवे, उतना ऊंच पद पाये। तो बाप समझाते हैं अपने अन्दर देखो हमने कितने पाप किये हैं? अभी कोई पाप तो नहीं होता है? ज़रा भी कुदृष्टि न हो। बाप जो श्रीमत देते हैं उस पर पूरा चलते रहें, यह खबरदारी चाहिए। माया के तूफान तो भल आयें परन्तु कर्मेन्द्रियों से कोई विकर्म नहीं करना है। कोई तरफ कुदृष्टि जाये तो उसके आगे खड़ा भी नहीं होना चाहिए। एकदम चला जाना चाहिए। मालूम पड़ जाता है-इनकी कुदृष्टि है। अगर ऊंच पद पाना है तो बहुत खबरदार रहना है। कुदृष्टि होगी तो फिर लूले-लंगड़े बन पड़ेंगे। बाप जो श्रीमत देते हैं, उस पर चलना है। बाप को बच्चे ही पहचान सकते हैं। समझो बाबा कहाँ जाता है, बच्चे ही समझेंगे कि बापदादा आया है। और मनुष्य देखते तो बहुत हैं परन्तु उनको थोड़ेही पता है। कोई पूछे भी यह कौन है? बोलो, बापदादा हैं। बैज तो सबके पास होने ही चाहिए। बोलो, शिवबाबा हमको इस दादा द्वारा अविनाशी ज्ञान रत्नों का दान देते हैं। यह है प्रीचुअल नॉलेज। प्रीचुअल फादर सभी रूहों का बाप बैठ यह नॉलेज देते हैं। शिव भगवानुवाच, गीता में कृष्ण भगवानुवाच रांग है। ज्ञान सागर पतित-पावन शिव को ही कहा जाता है। ज्ञान से ही सद्गति होती है। यह है अविनाशी ज्ञान रत्न। सद्गति दाता एक ही बाप है। यह सब अक्षर पूरी रीति याद रखने चाहिए। अभी बच्चे समझते हैं कि हम बाप को जानते हैं और बाप भी समझते हैं कि हम बच्चों को जानते हैं। बाप तो कहेगा ना-यह सब हमारे बच्चे हैं, परन्तु जान नहीं सकते हैं। तकदीर में होगा तो आगे चलकर जानेंगे। समझो यह बाबा कहाँ जाता है, कोई पूछते हैं कि यह कौन है? जरूर शुद्ध भाव से ही पूछेंगे। अक्षर ही यह बोलो कि बापदादा हैं। बेहद का बाप है निराकार। वह जब तक साकार में न आये तब तक बाप से वर्सा कैसे मिले? तो शिवबाबा प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा एडाप्ट कर वर्सा देते हैं। यह प्रजापिता ब्रह्मा और यह बी.के. हैं। पढ़ाने वाला ज्ञान का सागर है। उनसे ही वर्सा मिलता है। यह ब्रह्मा भी पढ़ता है। यह ब्राह्मण से फिर देवता बनने वाला है। कितना सहज है समझाना। कोई को भी बैज पर समझाना अच्छा है। बोलो, बाबा कहते हैं मुझे याद करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश हो जायेंगे। पावन बन और पावन दुनिया में चले जायेंगे। यह पतित-पावन बाप है ना। हम पुरूषार्थ कर रहे हैं पावन बनने का। जब विनाश का समय होगा तो फिर हमारी पढ़ाई पूरी हो जायेगी। कितना सहज है समझाना। कोई भी कहाँ आते-जाते हैं तो भी बैज साथ में होना चाहिए। इस बैज के साथ फिर एक छोटा पर्चा भी होना चाहिए। उसमें लिखा हो कि भारत में बाप आकरके फिर से आदि सनातन देवी-देवता धर्म स्थापन करते हैं। और सभी अनेक धर्म इस महाभारत लड़ाई द्वारा कल्प पहले मिसल ड्रामा प्लैन अनुसार खलास हो जायेंगे। ऐसे पर्चे 2-4 लाख छपे हों, जो कोई को भी पर्चा दे सकते हैं। ऊपर में त्रिमूर्ति हो, दूसरे तरफ सेन्टर्स की एड्रेस हो। बच्चों को सारा दिन सर्विस का ख्याल चलना चाहिए।

बच्चों ने गीत सुना – रोज़ अपना पोतामेल बैठ निकालना चाहिए कि आज सारे दिन में हमारी अवस्था कैसी रही? बाबा ने ऐसे बहुत मनुष्य देखे हैं जो रोज़ रात को सारे दिन का पोतामेल बैठ लिखते हैं। जाँच करते हैं-कोई खराब काम तो नहीं किया? सारा लिखते हैं। समझते हैं अच्छी जीवन कहानी लिखी हुई होगी तो पिछाड़ी वाले भी पढ़कर ऐसे सीखेंगे। ऐसा लिखने वाले अच्छे आदमी ही होते हैं। विकारी तो सब होते ही हैं। यहाँ तो वह बात नहीं है। तुम अपना पोतामेल रोज़ देखो। फिर बाबा के पास भेज देना चाहिए तो उन्नति अच्छी होगी और डर भी रहेगा। सब क्लीयर लिखना चाहिए-आज हमारी बुरी दृष्टि गई, यह हुआ…….। जो एक-दो को दु:ख देते हैं बाबा उन्हें गाज़ी कहते हैं। जन्म-जन्मान्तर के पाप तुम्हारे सिर पर हैं। अभी तुमको याद के बल से पापों का बोझ उतारना है इसलिए रोज़ देखना चाहिए हम सारे दिन में कितना गाज़ी बने हैं? किसको दु:ख देना गोया गाज़ी बनना है। पाप बन जाता है। बाप कहते हैं गाज़ी बन किसको दु:ख मत दो। अपनी पूरी जाँच करो-हमने कितना पाप, कितना पुण्य किया है? जो भी मिले सबको यह रास्ता बताना ही है। सबको बहुत प्यार से बोलो, बाप को याद करना है और पवित्र बनना है। गृहस्थ व्यवहार में रहते कमल फूल समान पवित्र बनना है। भल तुम संगम पर हो परन्तु यह तो रावण राज्य है ना। इस मायावी विषय वैतरणी नदी में रहते कमल फूल समान पवित्र बनना है। कमल फूल बहुत बाल बच्चों वाला होता है। फिर भी पानी से ऊपर रहता है। गृहस्थी है, बहुत चीजें पैदा करता है। यह दृष्टान्त तुम्हारे लिए भी है, विकारों से न्यारा होकर रहो। यह एक जन्म पवित्र रहो तो फिर यह अविनाशी हो जायेगा। तुमको बाप अविनाशी ज्ञान रत्न देते हैं। बाकी तो सब हैं पत्थर। वो लोग तो भक्ति की ही बातें सुनाते हैं। ज्ञान सागर पतित-पावन तो एक ही है तो ऐसे बाप से बच्चों का कितना लव रहना चाहिए। बाप का बच्चों से, बच्चों का बाप से लव रहता है। बाकी और कोई से कनेक्शन नहीं। सौतेले वह हैं जो बाप की मत पर पूरा नहीं चलते हैं। रावण की मत पर चलते हैं तो राम की मत थोड़ेही ठहरी। आधाकल्प है रावण सम्प्रदाय इसलिए इनको भ्रष्टाचारी दुनिया कहा जाता है। अब तुम्हें और सबको छोड़ एक बाप की मत पर चलना है। बी.के. की मत मिलती है सो भी जाँच करनी होती है कि यह मत राइट है वा रांग है? तुम बच्चों को राइट और रांग समझ भी अभी मिली है। जब राइटियस आये तब ही राइट और रांग बताये। बाप कहते हैं तुमने आधाकल्प यह भक्ति मार्ग के शास्त्र सुने हैं, अब मैं तुमको जो सुनाता हूँ-यह राइट है या वह राइट है? वह कहते हैं ईश्वर सर्वव्यापी है, मैं कहता हूँ मैं तो तुम्हारा बाप हूँ। अब जज करो कौन राइट है? यह भी बच्चों को ही समझाया जाता है ना, जब ब्राह्मण बनें तब समझें। रावण सम्प्रदाय तो बहुत हैं, तुम तो बहुत थोड़े हो। उनमें भी नम्बरवार हैं। अगर कोई कुदृष्टि है, तो भी उनको रावण सम्प्रदाय कहा जायेगा। राम सम्प्रदाय का तब समझा जाए जब सारी दृष्टि बदल कर दैवी बन जाए। अपनी अवस्था से हर एक समझ तो सकते हैं ना। पहले तो ज्ञान था नहीं, अभी बाप ने रास्ता बताया है। तो देखना है अविनाशी ज्ञान रत्नों का दान करता रहता हूँ? भक्त लोग दान करते हैं विनाशी धन का। अभी तुमको दान करना है अविनाशी धन का, न कि विनाशी। अगर विनाशी धन है तो अलौकिक सेवा में लगाते जाओ। पतित को दान करने से पतित ही बन जाते हो। अभी तुम अपना धन दान करते हो तो इसका एवजा फिर 21 जन्मों के लिए नई दुनिया में मिलता है। यह सब बातें समझने की हैं। बाबा सर्विस की युक्तियाँ भी बतालते रहते हैं। सब पर रहम करो। गाया हुआ भी है परमपिता परमात्मा ब्रह्मा द्वारा स्थापना करते हैं। परन्तु अर्थ नहीं समझते। परमात्मा को ही सर्वव्यापी कह दिया है। तो बच्चों को सर्विस का शौक बहुत अच्छा रखना है। औरों का कल्याण करेंगे तो अपना भी कल्याण होगा। दिन-प्रतिदिन बाबा बहुत सहज करते जाते हैं। यह त्रिमूर्ति का चित्र तो बहुत अच्छी चीज़ है। इसमें शिवबाबा भी है, फिर प्रजापिता ब्रह्मा भी है। प्रजापिता ब्रह्माकुमार-कुमारियों द्वारा फिर से भारत में 100 परसेन्ट पवित्रता-सुख-शान्ति का दैवी स्वराज्य स्थापन कर रहे हैं। बाकी अनेक धर्म इस महाभारत लड़ाई से कल्प पहले मुआफिक विनाश हो जायेंगे। ऐसे-ऐसे पर्चे छपवाकर बांटने चाहिए। बाबा कितना सहज रास्ता बताते हैं। प्रदर्शनी में भी पर्चे दो। पर्चे द्वारा समझाना सहज है। पुरानी दुनिया का विनाश तो होना ही है। नई दुनिया की स्थापना हो रही है। एक आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना हो रही है। बाकी यह सब विनाश हो जायेंगे कल्प पहले मुआफिक। कहाँ भी जाओ, पॉकेट में भी पर्चे और बैजेस सदैव पड़े रहें। सेकण्ड में जीवनमुक्ति गाई हुई है। बोलो, यह है बाप, यह दादा। उस बाप को याद करने से यह सतयुगी देवता पद पायेंगे। पुरानी दुनिया का विनाश, नई दुनिया की स्थापना, विष्णुपुरी नई दुनिया में फिर इन्हों का राज्य होगा। कितना सहज है। तीर्थों आदि पर मनुष्य जाते हैं, कितने धक्के खाते हैं। आर्य समाजी आदि भी ट्रेन भरकर जाते हैं। इसको कहा जाता है धर्म के धक्के, वास्तव में हैं अधर्म के धक्के। धर्म में तो धक्के खाने की दरकार नहीं है। तुम तो पढ़ाई पढ़ रहे हो। भक्ति मार्ग में मनुष्य क्या-क्या करते रहते हैं!

बच्चों ने गीत में भी सुना कि मुखड़ा देख….. यह मुखड़ा तुम्हारे सिवाए तो कोई देख नहीं सकते हैं। भगवान को भी तुम दिखला सकते हो। यह हैं ज्ञान की बातें। तुम मनुष्य से देवता, पाप आत्मा से पुण्य आत्मा बनते हो। दुनिया इन बातों को बिल्कुल नहीं जानती। यह लक्ष्मी-नारायण स्वर्ग के मालिक कैसे बनें-यह किसी को पता नहीं है। तुम बच्चे तो सब जानते हो। किसको बुद्धि में तीर लग जाए तो बेड़ा पार हो जाए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अगर विनाशी धन है तो उसको सफल करने के लिए अलौकिक सेवा में लगाना है। अविनाशी धन का दान भी जरूर करना है।

2) अपने पोतामेल में देखना है कि हमारी अवस्था कैसी है? सारे दिन में कोई खराब काम तो नहीं होते हैं? एक-दो को दु:ख तो नहीं देते हैं? किसी पर कुदृष्टि तो नहीं जाती है?

वरदान:- हर खजाने को बाप के डायरेक्शन प्रमाण कार्य में लगाने वाले आनेस्ट वा ईमानदार भव
आनेस्ट अर्थात् ईमानदार उसे कहा जाता है जो बाप के प्राप्त खजानों को बाप के डायरेक्शन बिना किसी भी कार्य में नहीं लगाये। अगर समय, वाणी, कर्म, श्वांस वा संकल्प परमत या संगदोष में व्यर्थ तरफ गंवाते हो, स्वचिंतन के बजाए परचिंतन करते हो, स्वमान की बजाए किसी भी प्रकार के अभिमान में आते हो, श्रीमत के बदले मनमत के आधार पर चलते हो तो आनेस्ट नहीं कहेंगे। यह सब खजाने विश्व कल्याण के लिए मिले हैं, तो उसी में ही लगाना यही है आनेस्ट बनना।
स्लोगन:- आपोजीशन माया से करनी है दैवी परिवार से नहीं।

अव्यक्त स्थिति का अनुभव करने के लिए विशेष होमवर्क

हर समय नवींनता का अनुभव करते औरों को भी नये उमंग-उत्साह में लाना। खुशी में नाचना और बाप के गुणों के गीत गाना। मधुरता की मिठाई से स्वयं का मुख मीठा करते दूसरों को भी मधुर बोल, मधुर संस्कार, मधुर स्वभाव द्वारा मुख मीठा कराना।

TODAY MURLI 20 JANUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 20 January 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 19 January 2019 :- Click Here

20/01/19
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
12/04/84

The foundation of Brahmin life is purity.

Today, BapDada is looking at all the holy swans to see to what extent each holy swan has become holy and to what extent each one has become a swan. To what extent have you put purity, that is, the power to become holy, into your life, that is, into your thoughts, words, deeds, relationships and connections? Is every thought holy, that is, is it filled with the power of purity? With thoughts of purity, are you able to recognise and transform any soul who has impure thoughts? With the power of purity can you change the vision, attitude and actions of any soul? Even impure thoughts cannot attack you when faced with this great power. However, when you yourself are defeated in your thoughts, words and deeds, it is then that you are defeated by other people and vibrations. To be defeated in a relationship or connection with anyone else proves that you yourself are defeated in terms of forging all relationships with the Father, for this is why you are defeated by some relationship or connection. The seed of being defeated in terms of purity is to be impressed by someone or by his or her virtues, nature, personality or speciality. To be impressed by someone or his or her physical presence is not to be impressed but to be ruined. The individual speciality, virtue or nature of a person is a speciality given by the Father, that is, it is a gift from God. To be impressed by someone is to be deceived. To be deceived means to take sorrow. The power of impurity is a power like a mirage, which is easily experienced through connections and relationships. It attracts you. You think that you are being impressed by goodness. This is why the words you say and think are: “I like this one a lot. I like this one’s virtues and nature a lot. I like this one’s knowledge. I like this one conducting yoga. I receive power and co-operation from this one. I receive love from this one.” You receive temporary attainment but you are deceived. You forget the Bestower, the Seed, the foundation, and are holding on to a colourful branch and swinging. So, what would be your condition? Without your having a foundation, will the branch make you swing or make you fall? Until you have experienced the sweetness of all relationships and all attainments from the Seed, that is, from the Bestower, you will continue to be deceived by attainments that are like a mirage from different branches: sometimes by people, sometimes by material comforts and sometimes by the vibrations and the atmosphere. To be impressed in this way means to be deprived of everlasting attainment. When you have the power of purity, whatever stage you want, whatever attainment you want and whatever task you want to succeed in, they will all become ever present in front of you like a servant, whenever you want. Even at the end of the iron age, you see the evidence of the elements of nature being the servants of the great souls in name who have imbibed the power of rajopradhan purity. Even now, their name of ‘great souls’ continues. Even now, they are worshipped. Impure souls bow down to them. So, just consider how great the power of purity of the end is and how powerful the satopradhan purity that you have attained from God would be. In front of this elevated power of purity, impurity has not just bowed down, it is under your feet. The devilish power of impurity is shown under the feet of a Shakti. How could something that is defeated and is under your feet, defeat you?

To be defeated in Brahmin life means to be a Brahmin in name only. Don’t be careless about this. The foundation of Brahmin life is the power of purity. If the foundation is weak, how would the building of 21 storeys of attainment be able to stand? If the foundation shakes, the experience of attainment cannot be there all the time, that is, you can neither remain unshakeable nor can you experience the great attainment of the present age and birth. You would become knowledgeable devotees, who sing praise of the age and this elevated birth, that is, you would have the understanding, but you yourself would not become that. This is called being a knowledgeable devotee. If, after becoming a Brahmin, you haven’t experienced the blessing and inheritance of all attainments and all powers, then what would you be called? A deprived soul or a Brahmin soul? Understand this purity with all its different forms very well. Keep a stern eye on yourself. Don’t just move along. You even try to be clever with the instrument souls and also with the Father. “This happens all the time. Who has become this yet? Or you say, “This is not impurity, it is greatness, this is a means of service.” “I am not being impressed, I am just taking co-operation. I am impressed because he or she is a helper.” As soon as you forget the Father, you are hit by Maya’s bullet. Or, in order to free yourself, you say: “I am not doing this. The other person is doing it.” However, if you forget the Father, you will meet Him in His form of Dharamraj. You will never be able to experience the happiness of the relationship with the Father. Therefore, don’t hide anything, don’t just make do. Don’t blame others. Don’t be deceived by the attraction of a mirage. In this foundation of purity, BapDada will give through Dharamraj one hundredfold, multi-million fold punishment. There cannot be any allowances made in this. He cannot be merciful in this, for it was because you broke the relationship with the Father that you became impressed with someone. To move away from God’s influence and to be influenced by souls means that you don’t know the Father, you have not recognised the Father. The Father is not in front of such souls in the form of the Father, but in the form of Dharamraj. Where there is sin (paap), the Father (Bap) isn’t there. Therefore, don’t become careless. Don’t consider this to be a small thing. To be impressed with someone, to have desires, means there is a trace of the vice of lust. You cannot be impressed unless there is some desire. That desire is the vice of lust. It is a great enemy. It comes in two forms. Desires will either make you impressed or they will cause you distress. So, just as you chant the slogan, “The vice of lust is the gateway to hell”, in the same way, have the dharna in your life that any type of temporary desire is as deceptive as a mirage. A desire means to be deceived. Therefore, keep a stern eye and become a form of Kali for this vice, that is, this desire. Don’t take a loving form and say: He is helpless. He is good. He has just a little bit of this; it will work out all right. No! Adopt a fierce form over the vices: not for others, but for yourself. Only then will you be able to destroy your sins and become an angel. If you are unable to have yoga, then check: definitely, some hidden vice is pulling you to itself. It is impossible for a Brahmin soul not to be able to have yoga. A Brahmin means you belong to One, you are all one. So, where would you go? If there is nothing else, where else would you go? Achcha.

It isn’t just celibacy for there are other children of the vice of lust. BapDada is so amazed at one thing. A Brahmin says that he has a wasteful vision and attitude of vice towards another Brahmin soul. This is defaming the family clan. You say, “Sister” or “Brother” and what do you do? If someone has impure vision or impure thoughts for his lokik sister, he is said to be one who is defaming the name of the family clan. So what would be said here? Not those who defame the family for just one birth, but for birth after birth. They are those who kick away their fortune of the kingdom. Never commit such multi-million fold sin. This is not just a sinful act, it is an extremely sinful act. Therefore, think, understand and be careful! This sin will cling to you like the demons of death. At present you may think that you are living a very enjoyable and comfortable life. Who sees you? Who knows anything? However, sin upon sin is accumulating and these sins will come to eat you. BapDada knows how severe the result of this is. Just as someone leaves his body in a lot of pain and suffering, in the same way, the sins will cause the intellect to have pain and suffering while leaving the body. These demons of death of sin will always remain in front of you. The end is so severe. Therefore, at this time, don’t commit such sin even by mistake. BapDada is not telling just those who are sitting in front of Him, but He is making all the children everywhere powerful. He is making you cautious and clever. Do you understand? As yet, there is still a lot of weakness in this subject. Achcha.

To those who understand the signals that are given for themselves, to those who adopt the form of Kali for their own sinful thoughts and sinful deeds, to those who save themselves from being deceived in different ways, to those who save themselves from sorrow, to the powerful souls, BapDada’s love, remembrance and namaste.

Become Brahmachari  those who follow Father Brahma in thoughts and activity.

To be Brahmachari means to follow the activities of Father Brahma. Let each footstep of your thoughts, words and actions be in Father Brahma’s footsteps. Let Father Brahma’s activity be visible in every action you do. Let your thoughts, words and actions be like those of Brahmachari. Those who are Brahmachari in this way are always seen to be introverted and in supersensuous joy in their face and behaviour. Brahmacharis are those whose every action reveals the activity of Brahma Baba. Their words are similar to the words of Brahma. Their way of doing everything is similar to the way Father Brahma did everything. Let the sanskar that Father Brahma made his own, when he reminded everyone of the time by renouncing his body, that is, when he became incorporeal, viceless and egoless, be the natural sanskar of you Brahmins too. Only then can you be called Brahmacharis. Let your sanskars and nature have the newness of being equal to those of the father. Do not excuse yourself by saying that that is your nature, but let your nature become the same nature as the father’s.

To take the vow of purity does not just mean celibacy, but every word you speak has to be filled with the vibrations of purity like Brahma. Each word of yours has to be like an elevated version. They cannot be ordinary, but uniquely spiritual. Every thought you have must be filled with the importance of purity. Every action you perform should be seen as an action of a karma yogi. Every action must be filled with yoga. This is what is meant by becoming Brahmchari (celibate) and Brahmachari.

All of you have seen or heard how although Brahma Baba was in an ordinary body, he was seen to be most elevated. Even now you can see in the subtle form that, whilst being ordinary, he has the sparkle of being most elevated. Follow the father. Even though you may be doing ordinary work, let your stage remain elevated. Let your face show the influence of an elevated life. Let everyone experience seeing the father in every action you do. This is known as being Brahmachari.

Father Brahma had special love for the murli. That is why he became a murlidhar. The future Shri Krishna is also shown playing the murli (flute). So to love that which the Father loves is a sign of true love. This is known as loving father Brahma, that is, to be a Brahmachari.

Before you perform any action, speak any words or think any thoughts, first check whether they are equal to those of Father Brahma. Then, think that thought, speak that word or perform that action with your physical organs. Do not say that you didn’t want to do that, but it just happened. Father Brahma had the speciality of only putting something into practice after he had thought about it or spoken about it beforehand. Those who follow father Brahma in the same way are Brahmachari.

On the basis of having faith and spiritual intoxication and of knowing that everything is predestined in the drama, Father Brahma made use of everything in a worthwhile way within a second. He didn’t keep anything for himself, but used it all in a worthwhile way. You saw the practical proof of this. You saw that even up to the last day, he served through his body by writing letters and speaking elevated versions. Even on his last day, he used his time, thoughts and body in a worthwhile way. So, to be a Brahmachari means to use everything in a worthwhile way. To use something in a worthwhile way means to use it for an elevated purpose.

Just as father Brahma was constantly cheerful and yet remained mature and sincere, just as he maintained a steady balance between the two, so you too must follow the father. Never be confused about anything or allow your mood to change in any situation. To follow Father Brahma constantly in every action you perform is to be a Brahmachari.

Father Brahma’s favourite slogan was “Achieve greater glorification through less expense”. So demonstrate this by achieving greater glorification through less expense. Let there be less expense, but let the attainment from whatever you spend be very beautiful. You need to be able to accomplish a lot and yet have less expenditure. This means that you mustn’t use a lot of your energy or thoughts. You mustn’t use many words but through the few words you speak, let there be greater clarification. Let your thoughts be few but powerful. This is known as achieving greater glorification through less expense, that is, as being an incarnation of economy.

Father Brahma practically demonstrated belonging to one Father and none other. In the same way, those who are becoming equal to the father have to follow him. Just like Father, have the determined thought never to get disheartened but always remain happy in your heart. Even if Maya tries to shake you, you must not fluctuate. If Maya adopts a form as big as the Himalayas, at that time, do not try to find a path, but just fly above. For those who have a flying stage, the mountain will become like cotton wool within a second.

You clearly experienced the personality of purity through sakar Father Brahma. This is the sign of the experience of tapasya. In the same way, let this personality be experienced by others through your face and through your form. Father Brahma is a symbol of being a karma yogi in the corporeal form. No matter how busy someone may be, no one can be as busy as Father Brahma. No matter how many responsibilities you have, no one has the same responsibilities as Father Brahma. So, just as Father Brahma remained a karma yogi whilst fulfilling his responsibilities and considered himself to be the one who is doing and performed all actions as karanhar – he didn’t consider himself to be the one inspiring (Karavanhar) – similarly, follow the father. No matter how great a task you are performing may be, think that you are dancing according to how the Dancing Teacher is making you dance, and you will never become tired or confused, but remain ever-happy.

Blessing: May you be a great and powerful soul with the power of truth who constantly dances in happiness.
It is said: Where there is truth, the soul dances. Those who are truthful, that is, those who have the power of truth will constantly dance, they will never wilt, get confused, be afraid or feel weak. They will constantly dance in happiness. They will be powerful. They will have the power to face everything. Truth never fluctuates, it is unshakeable. The boat of truth may rock but it will never sink. So, souls who imbibe the power of truth are great souls.
Slogan: To stop a busy mind and intellect in a second is a most elevated practice.

 

*** Om Shanti ***

Special effort to become equal to Father Brahma.

Just as Father Brahma always remained absorbed in God’s love, in the same way, the basis of your Brahmin life is God’s love. God’s love is your property. This love enables you to move forward in your Brahmin life and so, constantly remain merged in the ocean of love.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 20 JANUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 20 January 2019

To Read Murli 19 January 2019 :- Click Here
20-01-19
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 12-04-84 मधुबन

ब्राह्मण जीवन का फाउन्डेशन – पवित्रता

आज बापदादा सभी होलीहंसों को देख रहे हैं। हर एक होलीहंस कहाँ तक होली बने हैं, कहाँ तक हंस बने हैं? पवित्रता अर्थात् होली बनने की शक्ति कहाँ तक जीवन में अर्थात् संकल्प, बोल और कर्म में, सम्बन्ध में, सम्पर्क में लाई है? हर संकल्प होली अर्थात् पवित्रता की शक्ति सम्पन्न है? पवित्रता के संकल्प द्वारा किसी भी अपवित्र संकल्प वाली आत्मा को परख और परिवर्तन कर सकते हो? पवित्रता की शक्ति से किसी भी आत्मा की दृष्टि, वृत्ति और कृति तीनों ही बदल सकते हो। इस महान शक्ति के आगे अपवित्र संकल्प भी वार नहीं कर सकते। लेकिन जब स्वयं संकल्प, बोल वा कर्म में हार खाते हो तब दूसरे व्यक्ति वा वायब्रेशन से हार होती है। किसी के भी सम्बन्ध वा सम्पर्क से हार खाना – यह सिद्ध करता है कि स्वयं बाप से सर्व सम्बन्ध जोड़ने में हार खाये हुए हैं, तब किसी सम्बन्ध वा सम्पर्क से हार खाते हैं। पवित्रता में हार खाना, इसका बीज है किसी भी व्यक्ति वा व्यक्ति के गुण, स्वभाव, व्यक्तित्व वा विशेषता से प्रभावित होना। यह व्यक्ति वा व्यक्त भाव में प्रभावित होना, प्रभावित होना नहीं लेकिन बरबाद होना है। व्यक्ति की व्यक्तिगत विशेषता वा गुण, स्वभाव बाप की दी हुई विशेषता है अर्थात् दाता की देन है। व्यक्ति पर प्रभावित होना यह धोखा खाना है। धोखा खाना अर्थात् दु:ख उठाना। अपवित्रता की शक्ति, मृगतृष्णा समान शक्ति है जो सम्पर्क वा सम्बन्ध से बड़ी अच्छी अनुभव होती है, आकर्षण करती है। समझते हैं कि मैं अच्छाई की तरफ प्रभावित हो रहा हूँ इसलिए शब्द भी यही बोलते वा सोचते कि यह बहुत अच्छे लगते या अच्छी लगती है वा इसका गुण वा स्वभाव अच्छा लगता है। ज्ञान अच्छा लगता है। योग कराना अच्छा लगता है। इससे शक्ति मिलती है, सहयोग मिलता है, स्नेह मिलता है। अल्पकाल की प्राप्ति होती है लेकिन धोखा खाते हैं। देने वाले दाता अर्थात् बीज को, फाउन्डेशन को खत्म कर दिया और रंग-बिरंगी डाली को पकड़कर झूल रहे हैं तो क्या हाल होगा? सिवाए फाउन्डेशन के डाली झुलायेगी या गिरायेगी? जब तक बीज अर्थात् दाता, विधाता से सर्व सम्बन्ध, सर्व प्राप्ति के रस का अनुभव नहीं तब तक कब व्यक्ति से, कब वैभव से, कब वायब्रेशन वायुमण्डल आदि भिन्न-भिन्न डालियों से अल्पकाल की प्राप्ति का मृगतृष्णा समान धोखा खाते रहेंगे। यह प्रभावित होना अर्थात अविनाशी प्राप्ति से वंचित होना। पवित्रता की शक्ति जब चाहो, जिस स्थिति को चाहो, जिस प्राप्ति को चाहो, जिस कार्य में सफलता चाहो, वह सब आपके आगे दासी के समान हाजिर हो जायेगी। जब कलियुग के अन्त में भी रजोप्रधान पवित्रता की शक्ति धारण करने वाले नामधारी महात्माओं की अब अन्त तक भी प्रकृति दासी होने का प्रमाण देख रहे हो। अब तक भी नाम महात्मा चल रहा है, अब तक भी पूज्य हैं। अपवित्र आत्मायें झुकती हैं। तो सोचो – अन्त तक भी पवित्रता के शक्ति की कितनी महानता है और परमात्मा द्वारा प्राप्त हुई सतोप्रधान पवित्रता कितनी शक्तिशाली होगी। इस श्रेष्ठ पवित्रता की शक्ति के आगे अपवित्रता झुकी हुई नहीं लेकिन आपके पांव के नीचे हैं। अपवित्रता रूपी आसुरी शक्ति, शक्ति स्वरूप के पांव के नीचे दिखाई हुई है। जो पांव के नीचे हारी हुई है, हार कैसे खिला सकती है!

ब्राह्मण जीवन और हार खाना इसको कहेंगे नामधारी ब्राह्मण, इसमें अलबेले मत बनो। ब्राह्मण जीवन का फाउन्डेशन है पवित्रता की शक्ति। अगर फाउन्डेशन कमजोर है तो प्राप्तियों की 21 मंजिल वाली बिल्डिंग कैसे टिक सकेगी। यदि फाउन्डेशन हिल रहा है तो प्राप्ति का अनुभव सदा नहीं रह सकता अर्थात् अचल नहीं रह सकते और वर्तमान युग को वा जन्म की महान प्राप्ति का अनुभव भी नहीं कर सकते। युग की, श्रेष्ठ जन्म की महिमा गाने वाले ज्ञानी भक्त बन जायेंगे अर्थात् समझ है लेकिन स्वयं नहीं हैं, इसको कहते हैं ज्ञानी भक्त। अगर ब्राह्मण बनकर सर्व प्राप्तियों का, सर्व शक्तियों का वरदान या वर्सा अनुभव नहीं किया तो उसको क्या कहेंगे? वंचित आत्मा वा ब्राह्मण आत्मा? इस पवित्रता के भिन्न-भिन्न रूपों को अच्छी तरह से जानों, स्वयं के प्रति कड़ी दृष्टि रखो। चलाओ नहीं। निमित्त बनी हुई आत्माओं को, बाप को भी चलाने की कोशिश करते हैं। यह तो होता ही है, ऐसा कौन बना है! वा कहते हैं यह अपवित्रता नहीं है, महानता है, यह तो सेवा का साधन है। प्रभावित नहीं हैं, सहयोग लेते हैं। मददगार है इसीलिए प्रभावित हैं। बाप भूला और लगा माया का गोला या फिर अपने को छुड़ाने के लिए कहते हैं – मैं नहीं करती, यह करते हैं। लेकिन बाप को भूले तो धर्मराज के रूप में ही बाप मिलेगा। बाप का सुख कभी पा नहीं सकेंगे इसलिए छिपाओ नहीं, चलाओ नहीं। दूसरे को दोषी नहीं बनाओ। मृगतृष्णा के आकर्षण में धोखा नहीं खाओ। इस पवित्रता के फाउन्डेशन में बापदादा धर्मराज द्वारा 100 गुणा, पदमगुणा दण्ड दिलाता है। इसमें रियायत कभी नहीं हो सकती इसमें रहमदिल नहीं बन सकते क्योंकि बाप से नाता तोड़ा तब तो किसी के ऊपर प्रभावित हुए। परमात्म प्रभाव से निकल आत्माओं के प्रभाव में आना अर्थात् बाप को जाना नहीं, पहचाना नहीं। ऐसे के आगे बाप, बाप के रूप में नहीं धर्मराज के रूप में है। जहाँ पाप है वहाँ बाप नहीं। तो अलबेले नहीं बनो। इसको छोटी सी बात नहीं समझो। वह भी किसी के प्रति प्रभावित होना, कामना अर्थात् काम विकार का अंश है। बिना कामना के प्रभावित नहीं हो सकते। वह कामना भी काम विकार है। महाशत्रु है। यह दो रूप में आता है। कामना या तो प्रभावित करेगी या परेशान करेगी इसलिए जैसे नारे लगाते हो – काम विकार नर्क का द्वार। ऐसे अब अपने जीवन के प्रति यह धारणा बनाओ कि किसी भी प्रकार की अल्पकाल की कामना मृगतृष्णा के समान धोखेबाज है। कामना अर्थात् धोखा खाना। ऐसी कड़ी दृष्टि वाले इस काम अर्थात् कामना पर काली रूप बनो। स्नेही रूप नहीं बनो, बिचारा है, अच्छा है, थोड़ा-थोड़ा है, ठीक हो जायेगा। नहीं! विकर्म के ऊपर विकराल रूप धारण करो। दूसरों के प्रति नहीं अपने प्रति, तब विकर्म विनाश कर फरिश्ता बन सकेंगे। योग नहीं लगता तो चेक करो – जरूर कोई छिपा हुआ विकर्म अपने तरफ खींचता है। ब्राह्मण आत्मा और योग नहीं लगे, यह हो नहीं सकता। ब्राह्मण माना ही एक के हैं, एक ही है। तो कहाँ जायेंगे? कुछ है ही नहीं तो कहाँ जायेंगे? अच्छा!

सिर्फ ब्रह्मचर्य नहीं लेकिन और भी काम विकार के बाल बच्चे हैं। बापदादा को एक बात पर बहुत आश्चर्य लगता है। ब्राह्मण कहता है, ब्राह्मण आत्मा पर व्यर्थ की विकारी दृष्टि, वृत्ति जाती है। यह कुल कलंकित की बात है। कहना बहन जी वा भाई जी और करना क्या है! लौकिक बहन पर भी अगर कोई बुरी दृष्टि जाए, संकल्प भी आये, तो उसे कुल कलंकित कहा जाता है। तो यहाँ क्या कहेंगे? एक जन्म के नहीं लेकिन जन्म-जन्म का कलंक लगाने वाले। राज्य भाग्य को लात मारने वाले। ऐसे पदमगुणा विकर्म कभी नहीं करना। यह विकर्म नहीं महा विकर्म है इसलिए सोचो, समझो, सम्भालो। यही पाप जमदूतों की तरह चिपक जायेंगे। अभी भले समझते हैं बहुत मजे में रह रहे हैं, कौन देखता है, कौन जानता है लेकिन पाप पर पाप चढ़ता जाता है और यही पाप खाने को आयेंगे। बापदादा जानते हैं कि इसकी रिजल्ट कितनी कड़ी है। जैसे शरीर से कोई तड़प-तड़प कर शरीर छोड़ता है वैसे बुद्धि पापों में तड़प-तड़प कर शरीर छोड़ेगी। सदा सामने यह पाप के जमदूत रहते हैं। इतना कड़ा अन्त है इसलिए वर्तमान में गलती से भी ऐसा पाप नहीं करना। बापदादा सिर्फ सम्मुख बैठे हुए बच्चों को नहीं कह रहे हैं लेकिन चारों ओर के बच्चों को समर्थ बना रहे हैं। खबरदार, होशियार बना रहे हैं। समझा – अभी तक इस बात में कमजोरी काफी है। अच्छा।

सभी स्वयं प्रति इशारे से समझने वाले, सदा अपने विकल्प और विकर्म पर काली रूप धारण करने वाले, सदा भिन्न-भिन्न धोखों से बचने वाले, दु:खों से बचने वाले, शक्तिशाली आत्माओं को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

चुने हुए विशेष अव्यक्त महावाक्य

ब्रह्मा बाप के कदम पर कदम रखने वाले ब्रह्माचारी बनो

ब्रह्माचारी अर्थात् ब्रह्मा बाप के आचरण पर चलने वाले। संकल्प, बोल और कर्म रूपी कदम नैचुरल ब्रह्मा बाप के कदम-पर-कदम हो, जिसको फुट स्टेप कहते हैं। हर कदम में ब्रह्मा बाप का आचरण दिखाई दे अर्थात् यह मन-वाणी-कर्म के कदम ब्रह्माचारी हों, ऐसे जो ब्रह्माचारी हैं उनका चेहरा और चलन सदा ही अन्तर्मुखी और अतीन्द्रिय सुख का अनुभव करायेगा। ब्रह्माचारी वह है जिसके हर कर्म से ब्रह्मा बाप के कर्म दिखाई दें। बोल, ब्रह्मा के बोल समान हो, उठना-बैठना, देखना, चलना-सब समान हो। ब्रह्मा बाप ने जो अपना संस्कार बनाया और शरीर के अन्त में भी याद दिलाया – निराकारी, निर्विकारी, निरहंकारी-यही ब्राह्मणों के नेचुरल संस्कार हों, तब कहेंगे ब्रह्माचारी। स्वभाव-संस्कार में बाप समान की नवीनता हो। मेरा स्वभाव नहीं लेकिन जो बाप का स्वभाव सो मेरा स्वभाव।

पवित्रता का व्रत सिर्फ ब्रह्मचर्य का व्रत नहीं है लेकिन ब्रह्मा समान हर बोल में पवित्रता का वायब्रेशन समाया हुआ हो, एक-एक बोल महावाक्य हो, साधारण नहीं-अलौकिक हो। हर संकल्प में पवित्रता का महत्व हो, हर कर्म में कर्म और योग अर्थात् कर्मयोगी का अनुभव हो – इसको कहा जाता है ब्रह्मचारी और ब्रह्माचारी। जैसे ब्रह्मा बाप साधारण तन में होते भी पुरुषोत्तम अनुभव होते थे। सभी ने देखा या सुना है। अभी अव्यक्त रूप में भी साधारण में पुरुषोत्तम की झलक देखते हो! ऐसे फालो फादर। काम भल साधारण हो लेकिन स्थिति महान् हो। चेहरे पर श्रेष्ठ जीवन का प्रभाव हो। हर चलन से बाप का अनुभव हो-इसको कहते हैं ब्रह्माचारी।

जैसे ब्रह्मा बाप का स्नेह विशेष मुरली से रहा इसलिए मुरलीधर बना। भविष्य श्रीकृष्ण रूप में भी ‘मुरली’ ही निशानी दिखाते हैं। तो जिससे बाप का प्यार रहा उससे प्यार रहना-यही प्यार की निशानी है। इसी को कहेंगे ब्रह्मा बाप के प्यारे अर्थात् ब्रह्माचारी। जो भी कर्म करो तो कर्म के पहले, बोल के पहले, संकल्प के पहले चेक करो कि यह ब्रह्मा बाप समान है? फिर संकल्प को स्वरूप में लाओ, बोल को मुख से बोलो, कर्म को कर्मेन्द्रियों से करो। ऐसे नहीं कि सोचा तो नहीं था लेकिन हो गया। ब्रह्मा बाप की विशेषता विशेष यही है-जो सोचा वह किया, जो कहा वह किया, ऐसे फालो फादर करने वाले ही ब्रह्माचारी हैं।

जैसे ब्रह्मा बाप ने निश्चय के आधार पर, रूहानी नशे के आधार पर निश्चित भावी के ज्ञाता बन सेकेण्ड में सब कुछ सफल कर दिया; अपने लिए नहीं रखा, सफल किया। जिसका प्रत्यक्ष सबूत देखा कि अन्तिम दिन तक तन से पत्र-व्यवहार द्वारा सेवा की, मुख से महावाक्य उच्चारण किये। अन्तिम दिवस भी समय, संकल्प, शरीर को सफल किया। तो ब्रह्माचारी अर्थात् सब कुछ सफल करने वाले। सफल करने का अर्थ ही है-श्रेष्ठ तरफ लगाना। जैसे ब्रह्मा बाप सदा हर्षित और गम्भीर-दोनों के बैलेन्स की एकरस स्थिति में रहे, ऐसे फालो फादर। न कभी कोई बात में कन्फ्यूज होना और न कभी किसी बात से मूड चेंज करना। सदा हर कर्म में फालो ब्रह्मा बाप करना तब कहेंगे ब्रह्माचारी।

ब्रह्मा बाप का सबसे प्यारा स्लोगन रहा -“कम खर्चा बालानशीन”। तो कम खर्चे में भी बालानशीन करके दिखाओ। खर्चा कम हो लेकिन उससे जो प्राप्ति हो वह बहुत शानदार हो। कम खर्चे में काम ज्यादा हो। एनर्जी वा संकल्प ज्यादा खर्च न हो। कम बोल हों लेकिन उस कम बोल में स्पष्टीकरण ज्यादा हो, संकल्प कम हों लेकिन शक्तिशाली हों-इसको कहा जाता है ‘कम खर्च बालानशीन’ अथवा एकानामी के अवतार।

जैसे ब्रह्मा बाप ने – एक बाप, दूसरा न कोई – यह प्रैक्टिकल में कर्म करके दिखाया। ऐसे बाप समान बनने वालों को भी फालो करना है। ब्रह्मा बाप के समान यही दृढ़ संकल्प करना कि कभी दिलशिकस्त नहीं होना है, सदा दिलखुश रहना है। माया हिलाये तो भी हिलना नहीं है। अगर माया हिमालय जितने बड़े रूप से भी आये तो उस समय रास्ता नहीं निकालना, उड़ जाना। सेकेण्ड में उड़ती कला वाले के लिए पहाड़ भी रूई बन जायेगी।

जैसे साकार ब्रह्मा बाप से प्योरिटी की पर्सनैलिटी स्पष्ट अनुभव करते थे। ये तपस्या के अनुभव की निशानी है। ऐसे यह पर्सनैलिटी अब आपकी सूरत और सीरत द्वारा औरों को अनुभव हो। ब्रह्मा बाप साकार कर्मयोगी का सिम्बल है। कोई कितना भी बिजी हो लेकिन ब्रह्मा बाप से ज्यादा बिज़ी और कोई हो ही नहीं सकता। कितनी भी जिम्मेवारी हो लेकिन ब्रह्मा बाप जितनी जिम्मेवारी कोई के ऊपर नहीं है। तो जैसे ब्रह्मा बाप जिम्मेवारी निभाते भी कर्मयोगी रहे, स्वयं को करनहार समझकर कर्म किया, करावनहार नहीं समझा। ऐसे फालो फादर। कितना भी बड़ा कार्य करो लेकिन ऐसे समझो जैसे नचाने वाला नचा रहा है और हम नाच रहे हैं तो थकेंगे नहीं। कन्फ्यूज़ नहीं होंगे। एवरहैप्पी रहेंगे।

वरदान:- सत्यता की शक्ति द्वारा सदा खुशी में नाचने वाले शक्तिशाली महान आत्मा भव 
कहा जाता है “सच तो बिठो नच”। सच्चा अर्थात् सत्यता की शक्ति वाला सदा नाचता रहेगा, कभी मुरझायेगा नहीं, उलझेगा नहीं, घबरायेगा नहीं, कमजोर नहीं होगा। वह खुशी में सदा नाचता रहेगा। शक्तिशाली होगा। उसमें सामना करने की शक्ति होगी, सत्यता कभी हिलती नहीं है, अचल होती है। सत्य की नांव डोलती है लेकिन डूबती नहीं। तो सत्यता की शक्ति को धारण करने वाली आत्मा ही महान है।
स्लोगन:- व्यस्त मन-बुद्धि को सेकण्ड में स्टॉप कर लेना ही सर्व श्रेष्ठ अभ्यास है।

 

ब्रह्मा बाप समान बनने के लिए विशेष पुरुषार्थ

जैसे ब्रह्मा बाप सदा परमात्म प्यार में लवलीन रहे। ऐसे आपके ब्राह्मण जीवन का आधार परमात्म प्यार है। प्रभु प्यार ही आपकी प्रापॅर्टी है। यही प्यार ब्राह्मण जीवन में आगे बढ़ाता है इसलिए सदा प्यार के सागर में लवलीन रहो।

Font Resize