20 december ki murli

TODAY MURLI 20 DECEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 20 December 2020

20/12/20
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
20/03/1987

The Balance of the Authority of Love and Truth.

Today, the true Father, the true Teacher and the Satguru has come to meet His true children who are filled with the powerful truth. The greatest power and authority of all is truth. Truth has two meanings. 1. Truth means truth. 2. Truth means imperishable. In both meanings, the power of truth is the greatest of all. The Father is said to be the true Father. There are innumerable fathers, but only one true Father. There is just one true Teacher and one Satguru. The Truth is called the Supreme Soul, that is, the speciality of the Supreme Soul is truthfulness, that is, the Truth. You have a song: Shiva is the truth, Shiva is the beautiful One…. The world also sings: Satyam (Truth), Shivam (Benefactor), Sundaram (Beautiful One). Along with that, they say of the Father, the Supreme Soul, that He is the Truth, the Living Being and the Blissful One. You souls are also called truth, living beings and embodiments of bliss. A lot of praise has been sung of the word “truth”. In any task, when someone speaks with authority, he says, “I am truthful, and this is why I am speaking with authority.” It is remembered of truth: The boat of truth will rock, but it will not sink. You people also say: When there is the truth, the soul dances. Someone who has the power of truth will constantly continue to dance; he will never wilt, become confused, be afraid or become weak. Someone who has the power of truth will constantly continue to dance in happiness. He will be powerful, have the power to face and will therefore not be afraid. Truth is said to be like gold, whereas falsehood is said to be like mud. In devotion too, those whose love is directed to God are said to be “satsangi”, ones who keep the company of the Truth. At the end, when a soul leaves his body, what do they say? “The name of the Truth is with you.” So, truth is imperishable and truth is truthful. The power of truth is a great power. At present, what do the majority of people say when they see you? That you have the power of truth, and this is why you have continued to move along with so much growth. Truth never fluctuates; it is unshakeable. Truth is the way to make progress. You create the golden age with the power of truth. You yourselves become true Narayan and true Lakshmi. This is true knowledge of the true Father. This is why it is lovely and unique in the world.

Today, BapDada was looking at all you children to see to what extent you have imbibed the authority of the truth of true knowledge. Truth attracts every soul. Even though today’s world is the land of falsehood and everything is false, that is, everything is mixed with falsehood, nevertheless, those who have the power of truth become victorious. The attainment of truth is happiness and fearlessness. Those who speak the truth will always be fearless; they will never have fear. Those who are not truthful will definitely have fear. So, all of you are the elevated souls who are filled with the power of truth. You have all the attainments of true knowledge, the true Father, true attainment, true remembrance, true virtues and true powers. So, do you have the intoxication of such authorityAuthority does not mean arrogance. The greater the authority someone has, the more spiritual authority they have in their attitude. He will have love and humility in his words. That is the sign of authority. You people give the example of a tree. When a tree has the authority of being full of fruit, it bows down, that is, it does service of being “humble” (being an example). Similarly, for the children who have spiritual authority,the greater the authority they have, the more humility they will serve with and the more loving to all they will be. Those who have the authority of truth will be egoless. So, let there be that authority, intoxication and egoless stage. This is known as the practical form of true knowledge.

You saw in this land of falsehood the practical, physical form of the authority of truth in Father Brahma; his words of authority never gave any feeling of arrogance. When you listen to a murli, those words have such authority! However, they are not words of arrogance. Love, humility and egolessness are merged in words of authority. This is why words of authority are loved. They are not just loving, they are impressive. You are following the father, are you not? In service and in actions, you are following Father Brahma because, in the corporeal world, you are physical examples, the samples. So, just as you saw the form of authority in the face and activity of Father Brahma through his actions and service, in the same way, those who are following father would show love and authority, humility and greatness at the same time. It should not be that just love is visible and authority is missing, or that authority is visible and love is missing. You saw Father Brahma and you still hear murlis now. That is a visible example. He would say, “child, child”, and also show his authority. With love, he would say “child” and with authority, he would also give teachings. He would reveal the true knowledge and, while saying “child, child”, would clarify all the new knowledge. This is called having a balance of the authority of love and truth. So, at the present time, underline this balance in service.

Fifty years (1987, now 83 years) have now been completed from the time of establishment until now to prepare the ground. Quite a lot of ground has been prepared abroad too. Although it has not been 50 years there, they have come at a time when all facilities are ready-made, and this is why 50 years of the earlier time are equal to five years of the present. All the double foreigners say: We are the ones who have come last, are going fast and will come first. So, in terms of time too, you will go fast and come first, will you not? Definitely keep the authority of fearlessness. The new knowledge of the one Father is true knowledge, and the new world is established with new knowledge. Let this authority and intoxication emerge in your form. You have kept it merged for 50 years. However, this does not mean that you should confuse whoever comes in front of you by giving that one new knowledge straightaway. It doesn’t mean that. Give knowledge considering the ground, feeling their pulse and the time; this is the sign of being knowledge-full. Consider the desire of that soul, feel his pulse, prepare the ground, but definitely have the power of fearlessness in having the truth. Let there not be any fear of what people would say. You may be fearless and prepare the ground. Some children feel that, because this is new knowledge, some people won’t be able to understand it at all. However, you only have to explain it to those who do not understand. Certainly, you have to prepare the external form according to the person, but do not be influenced by that person. Do not forget the aim of definitely transforming the person with the authority of your true knowledge.

Whatever you have done until now was fine. You had to do that. It was necessary because you had to prepare the ground. However, till when will you prepare the ground? How much more time do you need? When you are given medicine, you are not given a powerful dose at the beginning; you are first given a small dose. However, do not just keep them going with only a small dose and do not give them a strong dose. If you give a weak person a large dose, that too is wrong. You also need the power to discern, but you definitely do need the authority of your true new knowledge. The subtle attitude of your authority will definitely change their attitudes. This ground will be prepared. So, when you do service and they reach Madhuban, let them definitely know at least this much: on this land their land is also prepared. No matter how hard the ground is, or which religion they belong to, or what their position may be, they too will become soft on this ground. Then, because the ground has become soft, whatever seeds you sow, the fruit of that will emerge easily. Simply do not have any fear; definitely become fearless. Give it to them tactfully. Let it not be that those people complain to you that they too reached this land, but that they didn’t know what God’s knowledge was. Having come to God’s land, let them definitely go back having received the message of God’s revelation. The aim has to be filled with this authority.

In terms of today’s world too, newness is important. For instance, even though someone may invent a fashion that is wrong, people still follow it. Look how beautiful art was in earlier days. In comparison to that, today’s art is just lines. However, people still like modern art. People’s choice in every situation is based on newness, and newness automatically attracts towards itself. Therefore, definitely have the intoxication of newness, truth and greatness. Then, consider the time and the person and do service. Definitely keep the aim that the new knowledge of the new world has to be revealed. Now, love and peace have been revealed. You have revealed the Father’s form of the Ocean of Love and the Ocean of Peace, but you have not made that many plans to give them the new knowledge of how a soul is an embodiment of knowledge and how the Father is the Ocean of Knowledge. The time will come when it will emerge from everyone’s lips that this is new knowledge for the new world. At present, they simply say that it is good; they don’t say that it is new. You have revealed the subject of remembrance very well, and this is why the ground has been prepared very well. The first task of preparing the ground is also essential. Whatever you did was very good and you did it very well; you did it using your bodies, minds and wealth and you are being thanked for that.

When you first went abroad, you used to find it so difficult to explain the picture of the Trimurti. Now, they are attracted by the picture of the Trimurti. They would consider the picture of the ladder to be the story of Bharat, but they are attracted to this picture abroad. So, just as you made plans for how to relate these new things to them, so now too create inventions. Do not think that you will have to do that. No. BapDada’s aim is that you imbibe the power of the greatness of newness; do not forget this. You have to explain to the world; do not be afraid of the things of the world. Create your own methods because only you children are inventors. Only you children know about the plans for service. If you keep your aim, the best of all plans will be created and success is your birthright anyway. Therefore, show newness. You have very good ways of clarifying all the deep points of knowledge. You are able to explain them. You can clarify each point logically. You have your own authority. It is not something created by your own mind or just a matter of imagination; it is real. It is your experience. You have the authority of experience, the authority of knowledge and the authority of truth; you have so many authorities. So, use both authority and love at the same time.

BapDada is pleased that, by serving with great effort, you have had so much growth and will continue to have more growth, both in this land and abroad. In this land, there is success through the person and feeling his pulse and then serving him. Abroad too, there has been success with this method. You first make contact with that person and the ground is prepared in that way. After making contact, bring that person into a relationship; do not just leave him as a contact. Bring that one into a relationship; then the last stage is to make him surrender with his intellect. It is essential to bring someone into contact and you then have to bring him into a relationship. Whilst coming into a relationship, let him surrender his intellect with the feeling, “Whatever the Father has said is the truth”. Then, no questions will arise. Whatever Baba says is right, because they will then experience that and so their questions will end. This is known as a surrendered intellect in which everything is experienced clearly. Keep the aim that it is essential to make them have surrendered intellects. Only then could it be said that a mike is now ready. What sound will the mike make? Not just that their knowledge is good; no! Let there be the sound, “This is new knowledge and this alone will bring the new world.” Only then will the Kumbhakarnas awaken. Otherwise, they just open their eyes and say, “Very good, very good”, and they then go back to sleep. Therefore, just as you have become a child and a master, make them like that too. Do not make those poor helpless people just subjects, but make them into those who have a right to the kingdom. Make plans for this: What method should we use so that they do not become confused but they also surrender their intellects? Let them find this to be new and not experience any confusion. Let them feel the authority of love and newness.

The result so far of the growth of service and the increase in the number of Brahmins is very good because at first you kept the Seed incognito; that too was essential. The Seed has to be kept incognito. By keeping it visible, it doesn’t bear fruit. The Seed has to be kept underground, but make sure that it doesn’t just get left underground. It has to be revealed externally; it should become the form of fruit: that is the advanced stage. Do you understand? Keep the aim of doing something new. Do not think that it will happen this year. However, your aim will reveal the Seed externally too. Let it not be that you go and immediately start giving lectures to them. First of all, you have to give talks to give them the feeling of the power of truth. Let it emerge from everyone’s lips, “At last that day has come…” You show a drama in which all religions unite and become one: “We are united, we belong to the One”. That is just showing a drama, but this is everyone from all religions coming together practically on the stage and saying together with one voice, “The Father is One, there is just this knowledge, there is just the one aim, just the one home and this is it.” This has to be heard now. When such a scene comes onto the unlimited stage, the flag of revelation will be hoisted. Everyone under this flag will then sing this song. The same sound will emerge from everyone’s lips: “Our Baba”. Only then will it be said that you celebrated Shiv Ratri in a practical way. The darkness will end and the scenes of the golden morning will be visible. This is known as the game of today and tomorrow. Today, there is darkness and tomorrow, there will be the golden morning. This is the final curtain. Do you understand?

All the plans that you have made are good. Plans have to be made according to the ground at each place. If, according to the land, some changes have to be made in the method, it doesn’t matter. Finally, everyone has to be made ready and definitely brought to the land of Madhuban to be stamped. All the different professions have to be prepared and a stamp put on them. You are not allowed to go anywhere without your passport first being stamped. So, the stamp will be put on in Madhuban.

All of you are surrendered anyway. If you hadn’t surrendered, how could you have become instruments for doing service? It is because you have surrendered that you have become Brahma Kumars and Kumaris and become instruments for serving. Whether in this land or abroad, none of you are serving as a Christian Kumari or a Buddhist Kumari, are you? You serve as a Brahma Kumar/Kumari, do you not? So, in the list of Brahmins, all are surrendered. You now have to make others surrender. You have died alive. You have become Brahmins. Children say, “My Baba”, and so Baba says: I have become yours. So, you are surrendered, are you not? Whether you live at home with your family or at a centre, whoever says from their hearts, “My Baba”, the Father makes them belong to Him. This is a deal made with the heart. It is not a physical bargain made just in words, but with the heart. Surrender means to stay under shrimat. The whole gathering is of those who are surrendered, is it not? This is why a photograph has been taken. You have now been photographed, and so you cannot change. To have been photographed in God’s home is not a small fortune. This photograph that has been taken is not a physical one, but a photograph that has been taken in the Father’s heart. Achcha.

To all the elevated souls who have the authority of truth, to the true server children who all show newness and greatness, to all of those who keep a balance of love and authority, to the elevated souls who claim a right to receiving blessings from the Father at every step, to all the true, that is, the imperishable jewels, to those who are playing their imperishable parts, to the children who are the masters of the imperishable treasures, love, remembrance and namaste from the World Creator, the true Father, the true Teacher and the Satguru.

Blessing: May you serve with silence of the mind and become an embodiment of success who creates a new invention.
In the beginning, when you were all observing silence, you had all become free and time was saved. Similarly, observe silence of the mind so that you do not have any waste thoughts. Just as no sound emerges from your lips, in the same way, let there be no waste thoughts: this is silence of the mind through which your time is saved. With this silence of the mind, a new invention will emerge such that you will have to make less effort and have greater success. Just as the facilities of science enable you to find a method in a second, in the same way, with these facilities of silence, you will find a method in a second.
Slogan: Everyone’s co-operation is surrendered to those who stay in the surrendered stage.

 

*** Om Shanti ***

Notice: Today is 3rd Sunday, World Meditation Hour, and all Raj Yogi tapaswi brothers and sisters will have collective meditation from 6.30 – 7.30 pm. At the time of special yoga, become stable in your form of light and might and, while invoking BapDada in the centre of the forehead, experience the combined form and do the service of spreading rays of light and might everywhere.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 20 DECEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 20 December 2020

Murli Pdf for Print : – 

20-12-20
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 20-03-87 मधुबन

स्नेह और सत्यता की अथॉरिटी का बैलेन्स

आज सत् बाप, सत् शिक्षक, सतगुरू अपने सत्यता के शक्तिशाली सत् बच्चों से मिलने आये हैं। सबसे बड़े ते बड़ी शक्ति वा अथॉरिटी सत्यता की ही है। सत् दो अर्थ से कहा जाता है। एक – सत् अर्थात् सत्य। दूसरा – सत् अर्थात् अविनाशी। दोनों अर्थ से सत्यता की शक्ति सबसे बड़ी है। बाप को सत् बाप कहते हैं। बाप तो अनेक हैं लेकिन सत् बाप एक है। सत शिक्षक, सतगुरू एक ही है। सत्य को ही परमात्मा कहते हैं अर्थात् परम आत्मा की विशेषता सत्य अर्थात् सत् है आपका गीत भी है। सत्य ही शिव है…। दुनिया में भी कहते हैं – सत्यम् शिवम् सुन्दरम्। साथ-साथ बाप परमात्मा के लिए सत-चित-आनंद स्वरूप कहते हैं। आप आत्माओं को सत-चित-आनंद कहते हैं। तो ‘सत्’ शब्द की महिमा बहुत गाई हुई है। और कभी भी कोई भी कार्य में अथॉरिटी से बोलते तो यही कहेंगे – मैं सच्चा हूँ, इसलिए अथॉरिटी से बोलता हूँ। सत्य के लिए गायन है – सत्य की नांव डोलेगी लेकिन डूबेगी नहीं। आप लोग भी कहते हो – सच तो बिठो नच। सच्चा अर्थात् सत्यता की शक्ति वाला सदा नाचता रहेगा, कभी मुरझायेगा नहीं, उलझेगा नहीं, घबरायेगा नहीं, कमजोर नहीं होगा। सत्यता की शक्ति वाला सदा खुशी में नाचता रहेगा। शक्तिशाली होगा, सामना करने की शक्ति होगी, इसलिए घबरायेगा नहीं। सत्यता को सोने के समान कहते हैं, असत्य को मिट्टी के समान कहते हैं। भक्ति में भी जो परमात्मा की तरफ लगन लगाते हैं, उन्हों को सत्संगी कहते हैं, सत् का संग करने वाले हैं। और लास्ट में जब आत्मा शरीर छोड़ती है तो भी क्या कहते हैं – सत् नाम संग है। तो सत् अविनाशी, सत् सत्य है। सत्यता की शक्ति महान् शक्ति है। वर्तमान समय मैजॉरिटी लोग आप सबको देखकर क्या कहते हैं – इन्हों में सत्यता की शक्ति है, तब इतना समय वृद्धि करते हुए चल रहे हैं। सत्यता कब हिलती नहीं है, अचल होती है। सत्यता वृद्धि को प्राप्त करने की विधि है। सत्यता की शक्ति से सतयुग बनाते हो, स्वयं भी सत्य नारायण, सत्य लक्ष्मी बनते हो। यह सत्य ज्ञान है, सत् बाप का ज्ञान है इसलिए दुनिया से न्यारा और प्यारा है।

तो आज बापदादा सभी बच्चों को देख रहे हैं कि सत्य ज्ञान की सत्यता की अथॉरिटी कितनी धारण की है? सत्यता हर आत्मा को आकर्षित करती है। चाहे आज की दुनिया झूठ खण्ड है, सब झूठ है अर्थात् सबमें झूठ मिला हुआ है, फिर भी सत्यता की शक्ति वाले विजयी बनते हैं। सत्यता की प्राप्ति खुशी और निर्भयता है। सत्य बोलने वाला सदा निर्भय होगा। उनको कब भय नहीं होगा। जो सत्य नहीं होगा तो उनको भय जरूर होगा। तो आप सभी सत्यता के शक्तिशाली श्रेष्ठ आत्मायें हो। सत्य ज्ञान, सत्य बाप, सत्य प्राप्ति, सत्य याद, सत्य गुण, सत्य शक्तियां सर्व प्राप्ति हैं। तो इतनी अथॉरिटी का नशा रहता है? अथॉरिटी का अर्थ अभिमान नहीं है। जितना बड़े ते बड़ी अथॉरिटी, उतना उनकी वृत्ति में रूहानी अथॉरिटी रहती है। वाणी में स्नेह और नम्रता होगी – यही अथॉरिटी की निशानी है। जैसे आप लोग वृक्ष का दृष्टान्त देते हो। वृक्ष में जब सम्पूर्ण फल की अथॉरिटी आ जाती है तो वृक्ष झुकता है अर्थात् निर्मान बनने की सेवा करता है। ऐसे रूहानी अथॉरिटी वाले बच्चे जितनी बड़ी अथॉरिटी, उतने निर्मान और सर्व स्नेही होंगे। लेकिन सत्यता की अथॉरिटी वाले निर-अहंकारी होते हैं। तो अथॉरिटी भी हो, नशा भी हो और निर-अहंकारी भी हो – इसको कहते हैं सत्य ज्ञान का प्रत्यक्ष स्वरुप।

जैसे इस झूठ खण्ड के अन्दर ब्रह्मा बाप सत्यता की अथॉरिटी का प्रत्यक्ष साकार स्वरूप देखा ना। उनके अथॉरिटी के बोल कभी भी अहंकार की भासना नहीं देंगे। मुरली सुनते हो तो कितनी अथॉरिटी के बोल हैं! लेकिन अभिमान के नहीं। अथॉरिटी के बोल में स्नेह समाया हुआ है, निर्माणता है, निर-अहंकार है इसलिए अथॉरिटी के बोल प्यारे लगते हैं। सिर्फ प्यारे नहीं लेकिन प्रभावशाली होते हैं। फॉलो फादर है ना। सेवा में वा कर्म में फॉलो ब्रहमा बाप है क्योंकि साकारी दुनिया में साकार ‘एक्जैम्पल’ है, सैम्पल है। तो जैसे ब्रह्मा बाप को कर्म में, सेवा में, सूरत से, हर चलन से चलता-फिरता अथॉरिटी स्वरूप देखा, ऐसे फॉलो फादर करने वाले में भी स्नेह और अथॉरिटी, निर्माणता और महानता – दोनों साथ-साथ दिखाई दें। ऐसे नहीं सिर्फ स्नेह दिखाई दे और अथॉरिटी गुम हो जाए या अथॉरिटी दिखाई दे और स्नेह गुम हो जाए। जैसे ब्रह्मा बाप को देखा वा अभी भी मुरली सुनते हो। प्रत्यक्ष प्रमाण है। तो बच्चे-बच्चे भी कहेगा लेकिन अथॉरिटी भी दिखायेगा। स्नेह से बच्चे भी कहेगा और अथॉरिटी से शिक्षा भी देगा। सत्य ज्ञान को प्रत्यक्ष भी करेंगे लेकिन बच्चे-बच्चे कहते नया ज्ञान सारा स्पष्ट कर देंगे। इसको कहते हैं स्नेह और सत्यता की अथॉरिटी का बैलेन्स। तो वर्तमान समय सेवा में इस बैलेन्स को अन्डरलाइन करो।

धरनी बनाने के लिए स्थापना से लेकर अब तक 50 वर्ष पूरे हो गये। विदेश की धरनी भी अब काफी बन गई है। भल 50 वर्ष नहीं हुए हैं, लेकिन बने बनाये साधनों पर आये हो, इसलिए शुरू के 50 वर्ष और अब के 5 वर्ष बराबर हैं। डबल विदेशी सब कहते हैं – हम लास्ट सो फास्ट सो फर्स्ट हैं। तो समय में भी फास्ट सो फर्स्ट होंगे ना। निर्भय की अथॉरिटी जरूर रखो। एक ही बाप का नया ज्ञान सत्य ज्ञान है और नये ज्ञान से नई दुनिया स्थापन होती है – यह अथॉरिटी और नशा स्वरूप में इमर्ज हो। 50 वर्ष तो मर्ज रखा। लेकिन इसका अर्थ यह नहीं कि जो भी आवे उनको पहले से ही नये ज्ञान की नई बातें सुनाकर कनफ्यूज़ कर दो। यह भाव नहीं है। धरनी, नब्ज, समय यह सब देख करके ज्ञान देना – यही नॉलेजफुल की निशानी है। आत्मा की इच्छा देखो, नब्ज देखो, धरनी बनाओ लेकिन अन्दर सत्यता के निर्भयता की शक्ति जरूर हो। लोग क्या कहेंगे – यह भय न हो। निर्भय बन धरनी भल बनाओ। कई बच्चे समझते हैं – यह ज्ञान तो नया है, कई लोग समझ ही नहीं सकेंगे। लेकिन बेसमझ को ही तो समझाना है। यह जरूर है – जैसा व्यक्ति वैसी रूपरेखा बनानी पड़ती है, लेकिन व्यक्ति के प्रभाव में नहीं आ जाओ। अपने सत्य ज्ञान की अथॉरिटी से व्यक्ति को परिवर्तन करना ही है – यह लक्ष्य नहीं भूलो।

अब तक जो किया, वह ठीक था। करना ही था, आवश्यक था क्योंकि धरनी बनानी थी। लेकिन कब तक धरनी बनायेंगे? और कितना समय चाहिए? दवाई भी दी जाती है तो पहले ही ज्यादा ताकत की नहीं दी जाती, पहले हल्की दी जाती। लेकिन ताकत वाली दवाई दो ही नहीं, हल्की पर ही चलाते चलो – यह नहीं करो। किसी कमजोर को हाई पावर वाली दवाई दे दी तो यह भी रांग है। परखने की भी शक्ति चाहिए। लेकिन अपने सत्य नये ज्ञान की अथॉरिटी जरूर चाहिए। आपकी सूक्ष्म अथॉरिटी की वृत्ति ही उन्हों की वृत्तियों को चेन्ज करेगी। यही धरनी बनेगी। और विशेष जब सेवा कर मधुबन तक पहुँचते हो तो कम-से-कम उन्हों को यह जरूर मालूम पड़ना चाहिए। इस धरनी पर उन्हों की भी धरनी बन जाती है। कितनी भी कलराठी धरनी हो, किस भी धर्म वाला हो, किस भी पोजीशन वाला हो लेकिन इस धरनी पर वह भी नर्म हो जाते हैं और नर्म धरनी बनने के कारण उसमें जो भी बीज डालेंगे, उसका फल सहज निकलेगा। सिर्फ डरो नहीं, निर्भय जरूर बनो। युक्ति से दो, ऐसा न हो कि वह आप लोगों को यह उल्हना दें कि ऐसी धरनी पर भी मैं पहुँचा लेकिन यह मालूम नहीं पड़ा कि परमात्म-ज्ञान क्या है? परमात्म-भूमि पर आकर परम-आत्मा की प्रत्यक्षता का सन्देश जरूर ले जाएं। लक्ष्य अथॉरिटी का होना चाहिए।

आजकल के जमाने के हिसाब से भी नवीनता का महत्व है। फिर भल कोई उल्टा भी नया फैशन निकालते हैं, तो भी फॉलो करते हैं। पहले आर्ट देखो कितना बढ़िया था! आजकल का आर्ट तो उनके आगे जैसे लकीरें लगेंगी। लेकिन मॉडर्न आर्ट पसन्द करते हैं। मानव की पसन्दी हर बात में नवीनता है और नवीनता स्वत: ही अपने तरफ आकर्षित करती है इसलिए नवीनता, सत्यता, महानता – इसका नशा जरूर रखो। फिर समय और व्यक्ति देख सेवा करो। यह लक्ष्य जरूर रखो कि नई दुनिया का नया ज्ञान प्रत्यक्ष जरूर करना है। अभी स्नेह और शान्ति प्रत्यक्ष हुई है। बाप का प्यार के सागर का स्वरूप, शान्ति के सागर का स्वरूप प्रत्यक्ष किया है लेकिन ज्ञान स्वरूप आत्मा और ज्ञानसागर बाप है, इस नये ज्ञान को किस ढंग से देवें, उसके प्लैन्स अभी कम बनाये हैं। वह भी समय आयेगा जो सभी के मुख से यह आवाज निकलेगा कि नई दुनिया का नया ज्ञान यह है। अभी सिर्फ अच्छा कहते हैं, नया नहीं कहते। याद की सब्जेक्ट को अच्छा प्रत्यक्ष किया है, इसलिए धरनी अच्छी बन गई है और धरनी बनाना – पहला आवश्यक कार्य भी जरूरी है। जो किया है, वह बहुत अच्छा और बहुत किया है, तन-मन-धन लगाकर किया है। इसके लिए आफरीन भी देते हैं।

पहले जब विदेश में गये थे तो यही त्रिमूर्ति के चित्र पर समझाना कितना मुश्किल समझते थे! अभी त्रिमूर्ति के चित्र पर ही आकर्षित होते हैं। यह सीढ़ी का चित्र भारत की कहानी समझते थे। लेकिन विदेश में इस चित्र पर आकर्षित होते। तो जैसे वह प्लैन बनाये कि यह नई बात किस ढंग से सुनावें, तो अब भी इन्वेन्शन करो। यह नहीं सोचो कि यह तो करना ही पड़ेगा। नहीं। बापदादा का लक्ष्य सिर्फ यह है कि नवीनता के महानता की शक्ति धारण करो, इसको भूलो नहीं। दुनिया को समझाना है, दुनिया की बातों से घबराओ नहीं। अपना तरीका इन्वेन्ट करो क्योंकि इन्वेन्टर आप बच्चे ही हो ना। सेवा के प्लैन बच्चे ही जानते हैं। जैसा लक्ष्य रखेंगे, वैसा प्लैन बहुत अच्छे से अच्छा बन जायेगा और सफलता तो जन्म-सिद्ध-अधिकार है ही है इसलिए नवीनता को प्रत्यक्ष करो। जो भी ज्ञान की गुह्य बातें हैं, उसको स्पष्ट करने की विधि आपके पास बहुत अच्छी है और स्पष्टीकरण है। एक एक प्वाइंट को लॉजिकल स्पष्ट कर सकते हो। अपनी अथॉरिटी वाले हो। कोई मनोमय वा कल्पना की बातें तो हैं नहीं। यथार्थ हैं। अनुभव है। अनुभव की अथॉरिटी, नॉलेज की अथॉरिटी, सत्यता की अथॉरिटी… कितनी अथॉरिटीज़ हैं! तो अथॉरिटी और स्नेह – दोनों को साथ-साथ कार्य में लगाओ।

बापदादा खुश हैं कि मेहनत से सेवा करते-करते इतनी वृद्धि को प्राप्त किया है और करते ही रहेंगे। चाहे देश है, चाहे विदेश है। देश में भी व्यक्ति और नब्ज देख सेवा करने में सफलता है। विदेश में भी इसी विधि से सफलता है। पहले सम्पर्क में लाते हो – यह धरनी बनती है। सम्पर्क के बाद फिर सम्बन्ध में लाओ, सिर्फ सम्पर्क तक छोड़ नहीं दो। सम्बन्ध में लाकर फिर उन्हों को बुद्धि से समर्पित कराओ – यह है लास्ट स्टेज। सम्पर्क में लाना भी आवश्यक है, फिर सम्बन्ध में लाना है। सम्बन्ध में आते-आते समर्पण बुद्धि हो जाए कि ‘जो बाप ने कहा, वही सत्य है।’ फिर क्वेश्चन नहीं उठते। जो बाबा कहता, वही सही है क्योंकि अनुभव हो जाता तो फिर क्वेश्चन समाप्त हो जाता। इसको कहते समर्पण बुद्धि जिसमें सब स्पष्ट अनुभव होता। लक्ष्य यह रखो कि समर्पण बुद्धि तक लाना अवश्य है। तब कहेंगे माइक तैयार हुए हैं। माइक क्या आवाज करेगा? सिर्फ अच्छा ज्ञान है इन्हों का, नहीं। यह नया ज्ञान है, यही नई दुनिया लायेगा – यह आवाज हो, तब तो कुम्भकरण जागेंगे ना। नहीं तो सिर्फ आंख खोलते हैं – बहुत अच्छा, बहुत अच्छा कह फिर नींद आ जाती है इसलिए जैसे स्वयं बालक सो मालिक बन गये ना, ऐसे बनाओ। बेचारों को सिर्फ साधारण प्रजा तक नहीं लाओ, लेकिन राज्य अधिकारी बनाओ। उसके लिए प्लैन बनाओ – किस विधि से करो जो कनफ्यूज़ भी न हों और समर्पण बुद्धि भी हो जाएं। नवीनता भी लगे, उलझन भी अनुभव नहीं करें। स्नेह और नवीनता की अथॉरिटी लगे।

अब तक जो रिजल्ट रही, सेवा की विधि, ब्राह्मणों की वृद्धि रही, वह बहुत अच्छा है क्योंकि पहले बीज को गुप्त रखा, वह भी आवश्यक है। बीज को गुप्त रखना होता है, बाहर रखने से फल नहीं देता। धरनी के अन्दर बीज को रखना होता है लेकिन अन्दर धरनी में ही न रह जाए। बाहर प्रत्यक्ष हो, फल स्वरूप बनें – यह आगे की स्टेज है। समझा? लक्ष्य रखो – नया करना है। ऐसे नहीं कि इस वर्ष ही हो जायेगा। लेकिन लक्ष्य बीज को भी बाहर प्रत्यक्ष करेगा। ऐसे भी नहीं सीधा जाकर भाषण करना शुरू कर दो। पहले सत्यता के शक्ति की भासना दिलाने के भाषण करने पड़ेंगे। ‘आखिर वह दिन आये’ – यह सबके मुख से निकले। जैसे ड्रामा में दिखाते हो ना, सब धर्म वाले मिलकर कहते हैं – हम एक हैं, एक के हैं। वह ड्रामा दिखाते हो, यह प्रैक्टिकल में स्टेज पर सब धर्म वाले मिलकर एक ही आवाज में बोलें। एक बाप है, एक ही ज्ञान है, एक ही लक्ष्य है, एक ही घर है, यही है – अब यह आवाज चाहिए। ऐसा दृश्य जब बेहद की स्टेज पर आये, तब प्रत्यक्षता का झण्डा लहरायेगा और इस झण्डे के नीचे सब यही गीत गायेंगे। सबके मुख से एक शब्द निकलेगा – ‘बाबा हमारा’ तब कहेंगे प्रत्यक्ष रूप में शिवरात्रि मनाई। अंधकार खत्म हो गोल्डन मार्निंग के नज़ारे दिखाई देंगे। इसको कहते हैं आज और कल का खेल। आज अंधकार, कल गोल्डन मार्निंग। यह है लास्ट पर्दा। समझा?

बाकी जो प्लैन बनाये हैं, वह अच्छे हैं। हर एक स्थान की धरनी प्रमाण प्लैन बनाना ही पड़ता है। धरनी के प्रमाण विधि में कोई अन्तर भी अगर करना पड़ता है तो ऐसी कोई बात नहीं है। लास्ट में सभी को तैयार कर मधुबन धरनी पर छाप जरूर लगानी है। भिन्न-भिन्न वर्ग को तैयार कर स्टैम्प (छाप) जरूर लगानी है। पासपोर्ट पर भी स्टैम्प लगाने सिवाए जाने नहीं देते हैं ना। तो स्टैम्प यहाँ मधुबन में ही लगेगी।

यह सब तो हैं ही सरेन्डर (समर्पित) अगर यह सरेन्डर नहीं होते तो सेवा के निमित्त कैसे बनते। सरेन्डर हैं तब ब्रह्मा-कुमार/ब्रह्माकुमारी बन सेवा के निमित्त बने हो। देश चाहे विदेश में कोई क्रिश्चियन-कुमारी वा बौद्ध-कुमारी बनकर तो सेवा नहीं करते हो? बी.के. बनकर ही सेवा करते हो ना। तो सरेन्डर ब्राह्मणों की लिस्ट में सभी हैं। अब औरों को कराना है। मरजीवा बन गये। ब्राह्मण बन गये। बच्चे कहते – ‘मेरा बाबा’, तो बाबा कहते – तेरा हो गया। तो सरेन्डर हुए ना। चाहे प्रवृत्ति में हो, चाहे सेन्टर पर हो लेकिन जिसने दिल से कहा – ‘मेरा बाबा’ तो बाप ने अपना बनाया। यह तो दिल का सौदा है। मुख का स्थूल सौदा नहीं है, यह दिल का है। सरेन्डर माना श्रीमत के अण्डर रहने वाले। सारी सभा सरेन्डर है ना इसलिए फोटो भी निकाला है ना। अब चित्र में आ गये तो बदल नहीं सकते। परमात्म-घर में चित्र हो जाए, यह कम भाग्य नहीं है। यह स्थूल फोटो नहीं लेकिन बाप के दिल में फोटो निकल गया। अच्छा।

सर्व सत्यता की अथॉरिटी वाली श्रेष्ठ आत्माओं को, सर्व नवीनता और महानता को प्रत्यक्ष करने वाले सच्चे सेवाधारी बच्चों को, सर्व स्नेह और अथॉरिटी के बैलेन्स रखने वाले, हर कदम में बाप द्वारा ब्लैसिंग (आशीर्वाद) लेने के अधिकारी श्रेष्ठ आत्माओं को, सर्व सत् अर्थात् अविनाशी रत्नों को, अविनाशी पार्ट बजाने वालों को, अविनाशी खजाने के बालक सो मालिकों को विश्व-रचता सत् बाप, सत् शिक्षक, सतगुरू का यादप्यार और नमस्ते।

वरदान:- मन के मौन से सेवा की नई इन्वेन्शन निकालने वाले सिद्धि स्वरूप भव
जैसे पहले-पहले मौन व्रत रखा था तो सब फ्री हो गये थे, टाइम बच गया था ऐसे अब मन का मौन रखो जिससे व्यर्थ संकल्प आवे ही नहीं। जैसे मुख से आवाज न निकले वैसे व्यर्थ संकल्प न आये – यह है मन का मौन। तो समय बच जायेगा। इस मन के मौन से सेवा की ऐसी नई इन्वेन्शन निकलेगी जो साधना कम और सिद्धि ज्यादा होगी। जैसे साइंस के साधन सेकण्ड में विधि को प्राप्त कराते हैं वैसे इस साइलेन्स के साधन द्वारा सेकण्ड में विधि प्राप्त होगी।
स्लोगन:- जो स्वयं समर्पित स्थिति में रहते हैं-सर्व का सहयोग भी उनके आगे समर्पित होता है।

 

सूचनाः- आज मास का तीसरा रविवार है, सभी राजयोगी तपस्वी भाई बहिनें सायं 6.30 से 7.30 बजे तक, विशेष योग अभ्यास के समय अपने लाइट माइट स्वरूप में स्थित हो, भ्रकुटी के मध्य बापदादा का आह्वान करते हुए, कम्बाइन्ड स्वरूप का अनुभव करें और चारों ओर लाइट माइट की किरणें फैलाने की सेवा करें।

TODAY MURLI 20 DECEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 20 December 2019

20/12/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father has come to fill you all with treasures. You simply have to follow God’s instructions. Make effort well and claim the inheritance. Do not become defeated by Maya.
Question: What are the main differences between God’s instructions, divine instructions and human instructions?
Answer: By following God’s instructions, you children return to your home and you then claim a high status in the new world. By following divine directions, you remain constantly happy because you also received those directions from the Father at this time. However, you still continued to come down. Human directions make you unhappy. In order to follow God’s directions, you first have to have full faith in the Father, the One who teaches you.

Om shanti. The Father has explained the meaning of: I, the soul, am an embodiment of peace. When you say “Om shanti” you souls remember your home. I, the soul, am an embodiment of peace. Then, when the soul receives organs, he becomes “talkie”. At first, the organs are small and then they grow larger. The Supreme Father, the Supreme Soul, is incorporeal. He needs a chariot in order to become “talkie”. Just as you souls are originally residents of the land of peace and, when you come down here, you become “talkie”, so the Father says: I also come into “talkie” in order to give you knowledge. The Father gives you His own introduction and the introduction of the beginning, the middle and the end of creation. This study is spiritual whereas all other studies are physical. They consider themselves to be bodies. None of them would say: I, the soul, am listening through these ears. You children now understand that the Father is the Purifier. He comes and explains how He comes. I do not enter a womb like you do. I enter this one. No question can arise about this. This one is My chariot and he is also called the mother. The biggest river is the Brahmaputra and so this one is the biggest river. It is not a question of water. This is the most elevated river; it is the biggest river of knowledge. Therefore, the Father explains to you souls: I am your Father. I too speak just as you speak. My part is at the very end. When you become completely impure, I have to come in order to make you pure. Who makes Lakshmi and Narayan like this? You cannot say that it was anyone other than God. Only the unlimited Father makes you into the masters of heaven. The Father alone is the Ocean of Knowledge. He says: I am the Living Seed of the human world tree. I know its beginning, middle and end. I am the Truth and the Living Seed. The whole knowledge of this world tree is contained in Me. This is called the world cycle and the drama; it continues to turn. Those limited dramas last for two hours whereas the reel of this drama is 5000 years. Whatever time passes, it continues to decrease from 5000 years. You know that you were at first deities and that, you then gradually went into the warrior clan. All of these secrets are in your intellects. Therefore, you should continue to think about them. When we came down in the beginning to play our parts, we were deities and we ruled for 1250 years. Time continues to pass by. It is not a question of hundreds of thousands of years. No one can think about anything which is hundreds of thousands of years. You children understand how you were those deities and that year after year passed by as you continued to play your parts and how many years have now passed. Gradually, your happiness continued to decrease. Everything passes through the stages of satopradhan, sato, rajo and tamo. Everything definitely becomes old. This is a matter of the unlimited. Let your intellects imbibe all of these aspects very well and then explain to others. Not everyone can be the same; they must surely explain in different ways. The easiest thing to explain is the cycle. The drama and the tree are the two main pictures. It is called the kalpa tree. No one knows what the duration of the cycle is. Human beings have many different opinions. One would say one thing and another would say something else. You have now understood the many different opinions of human beings and you have also understood the direction of the one God. There is such a vast difference. By following God’s instructions you will once again go to the new world. You will not be able to return there by following anyone else’s instructions, whether human directions or divine directions. Whilst following divine directions you come down because your degrees continue to decrease. You also come down whilst following devilish directions. However, there is happiness in following divine directions whereas there is sorrow in following the directions of human beings. Divine instructions are also given to you by the Father at this time. This is why you remain happy. The unlimited Father comes here from far away. People go abroad in order to earn an income. When they have accumulated a lot of money, they return. The Father says: I also bring many treasures for you children because I know that I had given you a great deal of wealth and that you lost it all. I only tell these things to you, the ones who lost the wealth in practical. You remember the things of 5000 years, do you not? You say: Yes Baba, we met You 5000 years ago and You gave us the inheritance. You are now aware that you definitely claimed the unlimited inheritance from the unlimited Father. Baba, we claimed the inheritance of the sovereignty of the new world from You. OK, so make effort again! Do not say: Baba, an evil spirit of Maya has defeated me. It is only after becoming body conscious that you are defeated by Maya. You become greedy or you accept bribes. A desperate situation is a different matter. Baba knows that, without becoming greedy you cannot fill your stomach. It doesn’t matter. You have to eat, but you must not get caught up in that. Otherwise, it will be you who has to experience sorrow. You acquire money and become happy but if you are then caught by the police, you will have to go to jail. Do not act in such a way, I would not be responsible for you. When someone commits a crime, he has to go to jail. There are no jails etc. there. Therefore, according to the dramaplan, you will receive the inheritance for 21 births as you did in the previous cycle. A whole kingdom is being created. There are wealthy subjects and poor subjects, but there is no sorrow there. The Father guarantees this. Not everyone can become the same. All types are needed in the sun and moon dynasty kingdoms. You children know how the Father gives you the sovereignty of the world and how you then come down. You remember this, do you not? You remember your study at school, do you not? Here, too, the Father reminds you that no one else in the entire world can teach you this spiritual study. “Manmanabhav” is also mentioned in the Gita. This is called the great mantra, the mantra that disciplines the mind. It is the mantra that enables you to conquer Maya. Those who conquer Maya conquer the world. It is the five vices that are called Maya. The picture of Ravan is absolutely clearThere are five vices in women and five vices in men. Through these, you become like a donkey; that is why a donkey’s head is shown for Ravan’s head. You now understand that, without knowledge, you too were like that. The Father sits here and teaches you in a very entertaining way. He is the Supreme Teacher. Whatever we learn from Him, we then tell others. Firstly, you have to enable them to have faith in the One who is teaching you. Tell them: The Father has explained this to us. So, now, whether you believe it or not is up to you. He is the unlimited Father. It is by following shrimat that you become elevated. Therefore, you will also definitely need an elevated new world. You now understand that you are sitting in the world of rubbish. No one else can understand this. There, in Paradise, you remain constantly happy, whereas people here are very unhappy in hell. You can call it hell or the river of poison. This old world is dirty. You can now feel the contrast between the golden age, heaven, and the iron age, hell. Heaven is called the wonder of the world. The silver age is not called that. Some people are so happy living in this dirty world. A buzzing moth buzzes around dirty insects and makes them like herself. You were also lying in the rubbish. I came and changed you from insects, that is, from shudras into Brahmins, by buzzing this knowledge to you. You are now becoming those with a double crown and so you should have so much happiness. You should also make full effort. The unlimited Father gives you easy explanations. How Baba explains the truth touches your hearts. At this time, everyone is trapped in the bog of Maya. There is so much external show. Baba explains: I come and rescue you from that bog and take you to heaven. You have heard the name “heaven”. Heaven does not exist now; there are only pictures of it. The masters of heaven were so wealthy. On the path of devotion, although you went to a temple every day, you did not have this knowledge. You now understand that the original eternal deity religion existed in Bharat. No one knows when it was their kingdom. Instead of calling it the deity religion, they call it the Hindu religion. In the beginning, the President of the Hindu Maha Sabha came. He said: We are vicious and devilish. How can we call ourselves deities? We said: OK, come and we will explain to you that the deity religion is once again being established. We will make you into the masters of heaven. Sit and learn. He said: Dadaji, I don’t have the time. How could he become a deity if he didn’t have the time? This is a study. It was not in that poor man’s fortune. He died! It would not even be said that he will become a subject; no. He just came along because he heard that the knowledge of how to become pure is given here. However, he cannot come to heaven; he will again go into the Hindu religion. You children understand that Maya is very powerful. She makes you make one mistake or another. If you perform any type of sin, you have to tell the Father about it with an honest heart. Sins continue to take place in the world of Ravan. They say: We have been sinners for many births. Who said this? Souls say this in front of the Father or the images of deities. You now feel that you truly were sinners for many births. You definitely were committing sin in the kingdom of Ravan. You are not able to speak of the sins of your many births, but you are able to speak of your sins of this birth. By telling Baba, you will become light. You have to tell the Surgeon about your sickness: that you beat so-and-so or that you stole something. You are not ashamed to relate these things, but you are ashamed to speak about lust. If you become too ashamed to speak to the Surgeon, how would your sickness be removed? Your consciences will continue to bite you and you will not be able to remember the Father. By telling Him the truth, you will be able to remember Him. The Father says: I, the Surgeon, give you so much medicine that you will remain constantly pure. By telling the Surgeon, you become light. Some take the initiative and write: Baba, I have committed sins for many births. You become sinful souls in the world of sinful souls. The Father now says: Children, you must no longer have any give and take with sinful souls. The true Satguru is the Father, the Immortal Image. He never comes into the cycle of birth and death. Those people have given that throne the name “The Immortal Throne” but they don’t understand the meaning of that. The Father has explained that this is the throne of the soul. Being here (in the forehead) feels right. A tilak is also applied here. Originally, a tilak of a small dot was applied. You now have to apply the tilak to yourself. You have to continue to remember the Father. Those who do a great deal of service will become great emperors. You do not have to study any study of the old world in the new world. Therefore, you have to pay attention to such an elevated study. Even whilst sitting here, some of you keep your intellects in yoga very well whereas others let their intellects’ yoga wander around. Some write that they had yoga for 10 minutes and some for 15 minutes. Those whose charts are good would have intoxication that they stayed in remembrance of Baba for this long. No one can write that he had yoga for more than 15 minutes; the intellect wanders here and there. If everyone were to have constant remembrance, they would all attain their karmateet stage. The Father explains so many sweet and lovely aspects to you. No other guru has taught in this way. It would not be only one who learns from a guru; thousands would learn from a guru. You learn so much from the Satguru. This is the mantra to control Maya. The five vices are called Maya. Wealth is called prosperity. You would say that Lakshmi and Narayan have a great deal of wealth. Lakshmi and Narayan cannot be called the mother and father. Adi Dev and Adi Devi are called the world father and world mother; they (Lakshmi and Narayan) are not called that. They are the masters of heaven. We become so wealthy by taking the imperishable jewels of knowledge. People go to Amba with many desires, whereas they go to Lakshmi for only wealth, not for anything else. Therefore, which one is greater? No one knows what they receive from Amba and what they receive from Lakshmi. They only ask for wealth from Lakshmi. You receive everything from Amba. Amba is more famous because the mothers have had to tolerate a great deal of sorrow. Therefore, the mothers are more famous. Achcha, the Father still says: Remember the Father and you will become pure. Remember the cycle and imbibe divine virtues. Make many similar to yourselves. You are students of God, the Father. You became those in the previous cycle too. You now have the same aim and objective. This is the true story of becoming Narayan from an ordinary man. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Never hide your sickness from the Surgeon. Save yourself from the evil spirits of Maya. You definitely have to do service in order to apply the tilak of sovereignty to yourself.
  2. Become wealthy by filling yourself with the imperishable jewels of knowledge. Do not now have any give and take with sinful souls. Pay full attention to this study.
Blessing: May you become a conqueror of attachment and an embodiment of remembrance by studying and teaching the lesson of the Gita.
The first lesson of the knowledge of the Gita is: Become a bodiless soul and the final lesson is become a conqueror of attachment and an embodiment of remembrance. The first lesson is the method and the final lesson is the result of the method. So, at every moment, first of all study these lessons yourself and then teach them to others. Perform such elevated actions that on seeing you demonstrate your elevated actions, all souls will perform elevated actions and be able to make their line of fortune elevated.
Slogan: Stay merged in God’s love and you will be liberated from having to work hard.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 20 DECEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 20 December 2019

20-12-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाप आये हैं तुम्हें सर्व खजानों से मालामाल बनाने, तुम सिर्फ ईश्वरीय मत पर चलो, अच्छी रीति पुरूषार्थ कर वर्सा लो, माया से हार नहीं खाओ”
प्रश्नः- ईश्वरीय मत, दैवी मत और मनुष्य मत में कौन-सा मुख्य अन्तर है?
उत्तर:- ईश्वरीय मत से तुम बच्चे वापिस अपने घर जाते हो फिर नई दुनिया में ऊंच पद पाते हो। दैवी मत से तुम सदा सुखी रहते हो क्योंकि वह भी बाप द्वारा इस समय की मिली हुई मत है। लेकिन फिर भी उतरते तो नीचे ही हो। मनुष्य मत दु:खी बनाती है। ईश्वरीय मत पर चलने के लिए पहले-पहले पढ़ाने वाले बाप पर पूरा निश्चय चाहिए।

ओम् शान्ति। बाप ने अर्थ तो समझाया है, मैं आत्मा शान्त स्वरूप हूँ। जब ओम् शान्ति कहा जाता है तो आत्मा को अपना घर याद आता है। मैं आत्मा शान्त स्वरूप हूँ। फिर जब आरगन्स मिलते हैं तब टॉकी बनती है। पहले छोटे आरगन्स होते हैं फिर बड़े होते हैं। अब परमपिता परमात्मा तो है निराकार। उनको भी रथ चाहिए टॉकी बनने के लिए। जैसे तुम आत्मायें परमधाम की रहने वाली हो, यहाँ आकर टॉकी बनती हो। बाप भी कहते हैं मैं तुमको नॉलेज देने के लिए टॉकी बना हूँ। बाप अपना और रचना के आदि, मध्य, अन्त का परिचय देते हैं। यह है रूहानी पढ़ाई, वह होती है जिस्मानी पढ़ाई। वह अपने को शरीर समझते हैं। ऐसे कोई नहीं कहेंगे कि हम आत्मा इन कानों द्वारा सुनती हैं। अभी तुम बच्चे समझते हो बाप है पतित-पावन, वही आकर समझाते हैं-मैं कैसे आता हूँ। तुम्हारे मिसल मैं गर्भ में नहीं आता हूँ। मैं इनमें प्रवेश करता हूँ। फिर कोई प्रश्न ही नहीं उठता। यह रथ है। इनको माता भी कहा जाता है। सबसे बड़ी नदी ब्रह्म पुत्रा है। तो यह है सबसे बड़ी नदी। पानी की तो बात नहीं। यह है महानदी अर्थात् सबसे बड़ी ज्ञान नदी है। तो बाप आत्माओं को समझाते हैं मैं तुम्हारा बाप हूँ। जैसे तुम बात करते हो, मैं भी बात करता हूँ। मेरा पार्ट तो सबसे पिछाड़ी का है। जब तुम बिल्कुल पतित बन जाते हो तब तुमको पावन बनाने के लिए आना होता है। इन लक्ष्मी-नारायण को ऐसा बनाने वाला कौन? सिवाए ईश्वर के और कोई के लिए कह नहीं सकेंगे। बेहद का बाप ही स्वर्ग का मालिक बनाते होंगे ना। बाप ही ज्ञान का सागर है। वही कहते हैं मैं इस मनुष्य सृष्टि का चैतन्य बीज हूँ। मैं आदि, मध्य, अन्त को जानता हूँ। मैं सत हूँ, मैं चैतन्य बीजरूप हूँ, इस सृष्टि रूपी झाड़ की मेरे में नॉलेज है। इसको सृष्टि चक्र अथवा ड्रामा कहा जाता है। यह फिरता ही रहता है। वह हद का ड्रामा दो घण्टे चलता है। इसकी रील 5 हजार वर्ष की है। जो-जो टाइम पास होता जाता है, 5 हजार वर्ष से कम होता जाता है। तुम जानते हो पहले हम देवी-देवता थे फिर आहिस्ते-आहिस्ते हम क्षत्रिय कुल में आ गये। यह सारा राज़ बुद्धि में है ना। तो यह सिमरण करते रहना चाहिए। हम शुरू-शुरू में पार्ट बजाने आये तो हम सो देवी-देवता थे। 1250 वर्ष राज्य किया। टाइम तो गुजरता जाता है ना। लाखों वर्ष की तो बात ही नहीं। लाखों वर्ष का तो कोई चिन्तन कर भी न सके।

तुम बच्चे समझते हो हम यह देवी-देवता थे फिर पार्ट बजाते, वर्ष पिछाड़ी वर्ष पास करते-करते अभी कितने वर्ष पास कर चुके हैं। धीरे-धीरे सुख कम होता जाता है। हर एक चीज़ सतोप्रधान, सतो रजो, तमो होती है। पुरानी जरूर होती है। यह फिर है बेहद की बात। यह सब बातें अच्छी रीति बुद्धि में धारण कर फिर औरों को समझाना है। सब तो एक जैसे नहीं होते। जरूर भिन्न-भिन्न रीति समझाते होंगे। चक्र समझाना सबसे सहज है। ड्रामा और झाड़ दोनों मुख्य चित्र हैं। कल्प वृक्ष नाम है ना। कल्प की आयु कितने वर्ष की है। यह कोई भी नहीं जानते। मनुष्यों की अनेक मत हैं। कोई क्या कहेंगे, कोई क्या कहेंगे। अभी तुमने अनेक मनुष्य मत को भी समझा है और एक ईश्वरीय मत को भी समझा है। कितना फर्क है। ईश्वरीय मत से तुमको फिर से नई दुनिया में जाना पड़े और कोई की भी मत से, दैवी मत वा मनुष्य मत से वापिस नहीं जा सकते। दैवी मत से तुम उतरते ही हो क्योंकि कला कम होती जाती है। आसुरी मत से भी उतरते हो। परन्तु दैवी मत में सुख है, आसुरी मत में दु:ख है। दैवी मत भी इस समय बाप की दी हुई है इसलिए तुम सुखी रहते हो। बेहद का बाप कितना दूर-दूर से आते हैं। मनुष्य कमाने के लिए बाहर जाते हैं। जब बहुत धन इकट्ठा होता है तो फिर आते हैं। बाप भी कहते हैं मैं तुम बच्चों के लिए बहुत खजाना ले आता हूँ क्योंकि जानता हूँ तुमको बहुत माल दिये थे। वह सब तुमने गँवा दिया है। तुमसे ही बात करता हूँ, जिन्होंने प्रैक्टिकल में गँवाया है। 5 हज़ार वर्ष की बात तुमको याद है ना। कहते हैं हाँ बाबा, 5 हज़ार वर्ष पहले आपसे मिले थे, आपने वर्सा दिया था। अब तुमको स्मृति आई है बरोबर बेहद के बाप से बेहद का वर्सा लिया था। बाबा, आपसे नई दुनिया की राजाई का वर्सा लिया था। अच्छा, फिर पुरूषार्थ करो। ऐसे नहीं कहो बाबा माया के भूत ने हमको हरा दिया। देह-अभिमान के बाद ही तुम माया से हारते हो। लोभ किया, रिश्वत खाई। लाचारी की बात और है। बाबा जानते हैं लोभ के सिवाए पेट पूजा नहीं होगी, हर्जा नहीं। भल खाओ परन्तु कहाँ फँस नहीं मरना, फिर तुमको ही दु:ख होगा। पैसा मिलेगा खुश हो खायेंगे, कहाँ पुलिस ने पकड़ लिया तो जेल में जाना पड़ेगा। ऐसा काम नहीं करो, उसका फिर रेसपॉन्सिबुल मैं नहीं हूँ। पाप करते हैं तो जेल में जाते हैं। वहाँ तो जेल आदि होता नहीं। तो ड्रामा के प्लैन अनुसार जो कल्प पहले तुमको वर्सा मिला है, 21 जन्म लिए वैसे ही फिर लेंगे। सारी राजधानी बनती है। गरीब प्रजा, साहूकार प्रजा। परन्तु वहाँ दु:ख होता नहीं। यह बाप गैरन्टी करते हैं। सब एक समान तो बन न सकें। सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी राजाई में सब चाहिए ना। बच्चे जानते हैं कैसे बाप हमको विश्व की बादशाही देते हैं। फिर हम उतरते हैं। स्मृति में आया ना। स्कूल में पढ़ाई स्मृति में रहती है ना। यहाँ भी बाप स्मृति दिलाते हैं। यह रूहानी पढ़ाई दुनिया भर में और कोई पढ़ा न सके। गीता में भी लिखा हुआ है मन्मनाभव। इसको महामंत्र वशीकरण मंत्र कहते हैं अर्थात् माया पर जीत पाने का मंत्र। माया जीते जगतजीत। माया 5 विकार को कहा जाता है। रावण का चित्र बिल्कुल क्लीयर है-5 विकार स्त्री में, 5 विकार पुरूष में। इनसे गधा अर्थात् टट्टू बन जाते हैं इसलिए ऊपर में गधे का शीश देते हैं। अभी तुम समझते हो ज्ञान बिगर हम भी ऐसे थे। बाप कितना रमणीक रीति बैठ पढ़ाते हैं। वह है सुप्रीम टीचर। उनसे जो हम पढ़ते हैं वह फिर औरों को सुनाते हैं। पहले तो पढ़ाने वाले में निश्चय कराना चाहिए। बोलो, बाप ने हमको यह समझाया है, अब मानो न मानो। यह बेहद का बाप तो है ना। श्रीमत ही श्रेष्ठ बनाती है। तो श्रेष्ठ नई दुनिया भी जरूर चाहिए ना।

अभी तुम समझते हो हम किचड़े की दुनिया में बैठे हैं। दूसरा कोई समझ न सके। वहाँ हम बहिश्त स्वर्ग में सदा सुखी रहते हैं। यहाँ नर्क में कितने दु:खी हैं। इसको नर्क कहो वा विषय वैतरणी नदी कहो, पुरानी दुनिया छी-छी है। अभी तुम फील करते हो-कहाँ सतयुग स्वर्ग, कहाँ कलियुग नर्क! स्वर्ग को कहा जाता है वन्डर ऑफ वर्ल्ड। त्रेता को भी नहीं कहेंगे। यहाँ इस गन्दी दुनिया में रहने में मनुष्यों को कितनी खुशी होती है। विष्टा के कीड़े को भ्रमरी भूँ-भूँ कर आपसमान बनाती है। तुम भी किचड़े में पड़े हुए थे। मैंने आकर भूँ-भूँ कर तुमको कीड़े से अर्थात् शूद्र से ब्राह्मण बनाया है। अभी तुम डबल सिरताज बनते हो तो कितनी खुशी रहनी चाहिए। पुरूषार्थ भी पूरा करना चाहिए। बेहद का बाप समझानी तो बहुत सहज देते हैं। दिल से लगता भी है बाबा सच-सच कहते हैं। इस समय सभी माया की दुबन में फंसे हुए हैं। बाहर का शो कितना है? बाबा समझाते हैं हम तुमको दुबन से आकर बचाते हैं, स्वर्ग में ले जाते हैं। स्वर्ग का नाम सुना हुआ है। अभी स्वर्ग तो है नहीं। सिर्फ यह चित्र है। यह स्वर्ग के मालिक कितने धनवान थे। भक्ति मार्ग में भल रोज़ मन्दिरों मे जाते थे, परन्तु यह ज्ञान कुछ नहीं था। अभी तुम समझते हो भारत में यह आदि सनातन देवी-देवता धर्म था। इन्हों का राज्य कब था, यह किसको पता नहीं है। देवी-देवता धर्म के बदले अब फिर हिन्दू-हिन्दू कहते रहते हैं। शुरू में हिन्दू महासभा का प्रेजीडेंट आया था। बोला, हम विकारी असुर हैं अपने को देवता कैसे कहलायें? हमने कहा अच्छा आओ तो तुमको समझायें देवी-देवता धर्म की स्थापना फिर से हो रही है। हम तुमको स्वर्ग का मालिक बना देंगे। बैठकर सीखो। बोला, दादा जी फुर्सत कहाँ? फुर्सत नहीं तो फिर देवता कैसे बनेंगे! यह पढ़ाई है ना। बिचारे की तकदीर में नहीं था। मर गया। ऐसे भी नहीं कहेंगे कि वह कोई प्रजा में आयेगा। नहीं, ऐसे ही चला आया था, सुना था यहाँ पवित्रता का ज्ञान मिलता है। परन्तु सतयुग में तो आ न सके। फिर भी हिन्दू धर्म में ही आयेंगे।

तुम बच्चे समझते हो माया बड़ी प्रबल है। कोई न कोई भूल कराती रहती है। कभी कोई उल्टा-सुल्टा पाप हो तो बाप को सच्ची दिल से सुनाना है। रावण की दुनिया में पाप तो होते ही रहते हैं। कहते हैं हम जन्म-जन्मान्तर के पापी हैं। यह किसने कहा? आत्मा कहती है-बाप के आगे या देवताओं के आगे। अभी तो तुम फील करते हो बरोबर हम जन्म-जन्मान्तर के पापी थे। रावण राज्य में पाप जरूर किये हैं। अनेक जन्मों के पाप तो वर्णन नहीं कर सकते हो। इस जन्म का वर्णन कर सकते हैं। वह सुनाने से भी हल्का हो जायेगा। सर्जन के आगे बीमारी सुनानी है-फलाने को मारा, चोरी की…., इस सुनाने में लज्जा नहीं आती है, विकार की बात सुनाने में लज्जा आती है। सर्जन से लज्जा करेंगे तो बीमारी छूटेगी कैसे? फिर अन्दर दिल को खाती रहेगी, बाप को याद कर नहीं सकेंगे। सच सुनायेंगे तो याद कर सकेंगे। बाप कहते हैं मैं सर्जन तुम्हारी कितनी दवाई करता हूँ। तुम्हारी काया सदैव कंचन रहेगी। सर्जन को बताने से हल्का हो जाता है। कोई-कोई आपेही लिख देते हैं-बाबा हमने जन्म-जन्मान्तर पाप किये हैं। पाप आत्माओं की दुनिया में पापात्मा ही बने हैं। अब बाप कहते हैं बच्चे, तुम्हें पाप आत्माओं से लेन-देन नहीं करनी है। सच्चा सतगुरू, अकालमूर्त है बाप, वह कभी पुनर्जन्म में नहीं आते हैं। उन्होंने अकाल तख्त नाम रखा है परन्तु अर्थ नहीं समझते हैं। बाप ने समझाया है आत्मा का यह तख्त है। शोभता भी यहाँ है, तिलक भी यहाँ (भ्रकुटी में) देते हैं ना। असुल में तिलक एकदम बिन्दी मिसल देते थे। अभी तुमको अपने को आपेही तिलक देना है। बाप को याद करते रहो। जो बहुत सर्विस करेंगे तो बड़ा महाराजा बनेंगे। नई दुनिया में, पुरानी दुनिया की पढ़ाई थोड़ेही पढ़ना है। तो इतनी ऊंच पढ़ाई पर फिर अटेन्शन देना चाहिए। यहाँ बैठते हैं तो भी कोई का बुद्धियोग अच्छा रहता है, कोई का कहाँ-कहाँ चला जाता है। कोई 10 मिनट लिखते हैं, कोई 15 मिनट लिखते हैं। जिसका चार्ट अच्छा होगा उनको नशा चढ़ेगा-बाबा इतना समय हम आपकी याद में रहे। 15 मिनट से जास्ती तो कोई लिख नहीं सकते। बुद्धि इधर-उधर भागती है। अगर सब एकरस हो जाएं तो फिर कर्मातीत अवस्था हो जाए। बाप कितनी मीठी-मीठी लवली बातें सुनाते हैं। ऐसे तो कोई गुरू ने नहीं सिखाया। गुरू से सिर्फ एक थोड़ेही सीखेगा। गुरू से तो हज़ारों सीखें ना। सतगुरू से तुम कितने सीखते हो। यह है माया को वश करने का मंत्र। माया 5 विकारों को कहा जाता है। धन को सम्पत्ति कहा जाता है। लक्ष्मी-नारायण के लिए कहेंगे इन्हों के पास बहुत सम्पत्ति है। लक्ष्मी-नारायण को कभी मात-पिता नहीं कहेंगे। आदि देव, आदि देवी को जगत पिता, जगत अम्बा कहते हैं, इनको नहीं। यह स्वर्ग के मालिक हैं। अविनाशी ज्ञान धन लेकर हम इतने धनवान बने हैं। अम्बा के पास अनेक आशायें लेकर जाते हैं। लक्ष्मी के पास सिर्फ धन के लिए जाते हैं और कुछ नहीं। तो बड़ी कौन हुई? यह किसको पता नहीं, अम्बा से क्या मिलता है? लक्ष्मी से क्या मिलता है? लक्ष्मी से सिर्फ धन मांगते हैं। अम्बा से तुमको सब कुछ मिलता है। अम्बा का नाम जास्ती है क्योंकि माताओं को दु:ख भी बहुत सहन करना पड़ा है। तो माताओं का नाम जास्ती होता है। अच्छा, फिर भी बाप कहते हैं बाप को याद करो तो पावन बन जायेंगे। चक्र को याद करो, दैवीगुण धारण करो। बहुतों को आप समान बनाओ। गॉड फादर के तुम स्टूडेन्ट हो। कल्प पहले भी बने थे फिर अब भी वही एम आब्जेक्ट है। यह है सत्य नर से नारायण बनने की कथा। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपनी बीमारी सर्जन से कभी भी छिपानी नहीं है। माया के भूतों से स्वयं को बचाना है। अपने को राजतिलक देने के लिए सर्विस जरूर करनी है।

2) स्वयं को अविनाशी ज्ञान धन से धनवान बनाना है। अब पाप आत्माओं से लेन-देन नहीं करनी है। पढ़ाई पर पूरा-पूरा अटेन्शन देना है।

वरदान:- गीता का पाठ पढ़ने और पढ़ाने वाले नष्टोमोहा स्मृति स्वरूप भव
गीता ज्ञान का पहला पाठ है – अशरीरी आत्मा बनो और अन्तिम पाठ है नष्टोमोहा स्मृति स्वरूप बनो। पहला पाठ है विधि और अन्तिम पाठ है विधि से सिद्धि। तो हर समय पहले स्वयं यह पाठ पढ़ो फिर औरों को पढ़ाओ। ऐसा श्रेष्ठ कर्म करके दिखाओ जो आपके श्रेष्ठ कर्मो को देख अनेक आत्मायें श्रेष्ठ कर्म करके अपने भाग्य की रेखा श्रेष्ठ बना सकें।
स्लोगन:- परमात्म स्नेह में समाये रहो तो मेहनत से मुक्त हो जायेंगे।

TODAY MURLI 20 DECEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 20 December 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 19 December 2018 :- Click Here

20/12/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, stop being confused by questions and remain “Manmanabhav”. Remember the Father and the inheritance. Become pure and make others pure.
Question: Why can Shiv Baba not let you children worship Him?
Answer: Baba says: I am the most obedient Servant of you children. You children are My masters. I salute you children. The Father is egoless. Children have to become equal to the Father. How can I let you children worship Me? I don’t even have feet which you could wash. You have to become God’s helpers and serve the world.
Song: This is a story of the battle of the weak and the powerful, of the lamp and the storms.

Om shanti. Incorporeal God Shiva speaks. Shiv Baba is incorporeal and the souls who say, “Shiv Baba”, are in fact also incorporeal. They are residents of the incorporeal world. You have become corporeal in order to play your parts here. All of us have feet. Even Krishna has feet. They worship the feet. Shiv Baba says: I am obedient. I don’t have feet that I would make you wash and worship them. Sannyasis have their feet washed. Householders go and wash their (the sannyasis) feet. It is human beings who have feet. Shiv Baba doesn’t have feet that you would have to worship His feet. That is the paraphernalia of worship. The Father says: I am the Ocean of Knowledge. How could I allow My children to wash My feet? The Father says: Salutations to the mothers! What should the mothers then say? Yes, they should stand up and say: Shiv Baba, namaste, just as others say: Salaam Aleikum (salutations). However, in that too, the Father has to say “Namaste” first. He says: I am most obedient. I am the unlimited Servant. He is incorporeal and so egoless. There is no question of worshipping. How can I let the most beloved children, who become the masters of the property, worship Me? Yes, little children bow down at the feet of their father because the father is senior. However, the father is in fact also the servant of the children. Baba knows that Maya troubles you children a lot. It is a very severe part. A lot of limitless sorrow is yet to come. All of this is a matter of the unlimited. It is only then that the unlimited Father comes. The Father says: I alone am the Bestower. No one else can be called the Bestower. Everyone asks the Father for things. Even sages ask for liberation. The householders of Bharat ask God for liberation-in-life. So the Bestower is One. It is remembered: The Bestower of Salvation for all is One. If the sages themselves are making spiritual endeavour, how can they grant liberation or salvation to others? The Proprietor of both the land of liberation and the land of liberation-in-life is the one Father. He only comes once and at His own time. All others continue to enter birth and death. That One only comes once when the kingdom of Ravan has to end. He cannot come before that. It is not in His part of the drama. So the Father says: You have now received recognition of Me from Me. Because people don’t know Me, they have called Me omnipresent. It is now the kingdom of Ravan. It is only the people of Bharat who continue to burn an effigy of Ravan. So this proves that the kingdom of Ravan exists in Bharat and that the kingdom of Rama also exists in Bharat. Only the One who establishes the kingdom of Rama explains how it is now the kingdom of Ravan. Who explains this? Incorporeal God Shiva speaks. Souls would not be called Shiva. All souls are saligrams. Only the One is called Shiva. There are many saligrams. This is the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. When those brahmins create sacrificial fires, they create a big Shivalingam and many small saligrams and worship them. The goddesses are worshipped year after year, whereas they create them (saligrams) of clay every day and worship them. There is great respect for Rudra. They don’t know who the saligrams are. You, the Shiv Shakti Army, make impure ones pure. Shiva is worshipped, but what about the saligrams? So many people create a sacrificial fire of Rudra and worship the saligrams. You children also made effort together with Shiv Baba. You are Shiv Baba’s helpers. You are called God’s helpers. The incorporeal One, Himself, would surely enter someone’s body. In heaven, there is no need for any help. Shiv Baba says: Look, these children are My helpers. They are numberwise. Not everyone can be worshipped. This sacrificial fire only takes place in Bharat. Only the Father explains these secrets. Those brahmins and merchants don’t know this. In fact, this is the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. You children become pure and make Bharat into heaven. This is a big hospital where we become ever healthy through yoga. The Father says: Remember Me! Body consciousness is the number one vice that breaks your yoga. It is when you become body conscious and forget the Father that the other vices also come. It takes a lot of effort to have this yoga constantly. People consider Krishna to be God and worship him. However, he is not the Purifier that his feet would be worshipped. Shiva doesn’t have any feet at all. He comes and becomes the Servant of the mothers and says: Remember the Father and heaven and you will then rule a kingdom for 21 births. Twenty one generations are remembered. They are not remembered in other religions. None of those of the other religions receive a sovereignty in heaven for 21 births. This drama is also predestined. Those of the deity religion who have become mixed with other religions will emerge again. The happiness of heaven is limitless. There is very good happiness in the new world, in a new building. As soon as it becomes a little old, there are some flaws in it, and so it has to be repaired. Therefore, just as the Father’s praise is limitless, so the praise of heaven is also limitless. You are making effort to become the masters of heaven. No one else can make you into the masters of heaven. You children know that the scenes of destruction are very painful. You should claim your inheritance from the Father before that. The Father says: Now belong to Me, that is, come into God’s lap. Shiv Baba is great, and so you have a lot of attainment. The happiness of heaven is limitless. As soon as you hear its name, your mouth begins to water. They say: so-and-so has gone to heaven. Everyone loves heaven. This is hell and no one can go to heaven until the golden age comes. The Father explains: This Jagadamba goes to heaven and becomes the Empress Lakshmi, and then the children also become this (receive a status) numberwise. Mama and Baba make more effort. Even the children will rule there. It would not be just Lakshmi and Narayan who rule there. So the Father comes and changes you from human beings into deities; He teaches you. They say that Krishna makes you that (into deities). However, Krishna has been shown in the copper age. Deities don’t exist in the copper age. Sannyasis cannot say that they show you the path to heaven. God is needed for that. They say: The gates to liberation and liberation-in-life will open at the end of the iron age. This is the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. I am Shiva, Rudra, and all are saligrams. All of you are bodily beings. I have taken a body on loan. All of you are Brahmins. No one except Brahmins can have this knowledge. Shudras can’t have it. The deities of the golden age had divine intellects; the Father is now making you become like them. Sannyasis cannot make the intellect of anyone divine. Although they themselves are pure, they still fall ill. In heaven, no one would ever fall ill. There, there is limitless happiness and this is why the Father says: Make full effort. This is a race . This is a race to be threaded in the rosary of Rudra. We souls have to race in yoga. The more yoga you have, the more it will be understood that you are running fast and that your sins will continue to be absolved. While walking, sitting and moving around, you are on a pilgrimage. The pilgrimage of your intellects’ yoga is very good. You say: Why would we not remain pure in order to attain the limitless happiness of such a heaven? Maya cannot shake us. You have to make a promise. This is your final birth and everyone has to die, and so why not claim your inheritance from the Father? Baba has so many children. There is Prajapita and so He must definitely have created a new creation. The new creation is of Brahmins. Brahmins are spiritual social workers. Deities experience the reward. You are serving Bharat and this is why you alone become the masters of heaven. By serving Bharat, you serve everyone. This is the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. Shiva, not Krishna, is called Rudra. Krishna is a prince of the golden age. Those sacrificial fires etc. will not exist there. This is now the kingdom of Ravan and it has to end, so you will never create an effigy of Ravan. The Father Himself comes and liberates you from those chains. He even liberated this Brahma from the chains. Look what everyone’s condition has become by reading the scriptures! So, the Father says: Now, remember Me. You don’t have the courage to remember the Father. Some don’t remain pure and continue to ask useless questions. Therefore, the Father says: Manmanabhav! If you become confused about something, then put it aside. Become “Manmanabhav”. Don’t think that you have to stop studying because you didn’t receive a response to your question. Some say: You have God here and so why don’t you give a response? The Father says: You are only concerned with the Father and the inheritance. You also have to remember the cycle. Those people also show the Trimurti and the cycle. They write: “Victory for Truth”, but they don’t understand the meaning of that. You can explain to them: When you remember Shiv Baba, you would also remember Brahma, Vishnu and Shankar, the residents of the subtle region, and by spinning the discus of self-realisation you will become victorious. Victory means to gain victory over Maya. This is a matter of such great understanding. Here, the law is that storks cannot sit in a gathering of swans. The BKs who make everyone into angels of heaven have a huge responsibility. When someone comes, first of all, ask him: Do you know the Father of souls? Those who ask the question must surely know. Sannyasis would never ask such questions. They don’t know. You should ask: Do you know the unlimited Father? First of all, become engaged to Him. This is the business of Brahmins. The Father says: O souls, have yoga with Me because you have to come to Me. The golden-aged deities have remained separated for a long time and so they are the ones to receive knowledge first. Lakshmi and Narayan have completed their 84 births and so they are the ones who should receive knowledge first. The father of the tree of the human world is Brahma and the Father of souls is Shiva. So, they are Bap and Dada and you are His grandchildren. You receive knowledge from Him. The Father says: Only when I enter hell do I create heaven. God Shiva speaks: Lakshmi and Narayan are not trikaldarshi. They don’t have the knowledge of the Creator or of creation and so how could this knowledge have existed from time immemorial? Some think that you simply keep saying that death is about to come, and yet nothing happens. There is an example of this. A small boy kept saying that a lion had come, but no lion ever came. Eventually, one day, a lion did come and ate all the sheep. All of those stories refer to the present time. One day, death will eat everyone. What will you be able to do then? This is such a big sacrificial fire of God. No one except God can create such a big sacrificial fire. If you call yourself a Brahmin, a mouth-born creation of Brahma, and don’t become pure, you die. You have to make a promise to Shiv Baba. Sweet Baba, Baba who is making me into a master of heaven, I am Yours, and I will remain Yours until the end. If you divorce such a Father or Bridegroom, you won’t be able to become an emperor or empress. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become a true helper of God and help the Father with your purity in making Bharat into heaven. Become a spiritual social worker.
  2. Don’t stop studying due to being confused by any type of question. Put aside the questions and remember the Father and the inheritance.
Blessing: May you be crowned with the crown of the kingdom of the world by being crowned with the crown of responsibility for world transformation through self-transformation.
Just as you all consider yourselves to have a right over the Father and over your attainments, in the same way, be crowned with the responsibility of self-transformation and world-transformation. You will then have a right to be crowned with the crown of the kingdom of the world. The present is the basis for the future. Check and look into the mirror of knowledge as to whether in your Brahmin life you have the double crown of purity and the study and service. If any crown is incomplete here, you will claim a right to a small crown there.
Slogan: Remain constantly under within the canopy of BapDada’s protection and you will become a destroyer of obstacles.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 20 DECEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 20 December 2018

To Read Murli 19 December 2018 :- Click Here
20-12-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – प्रश्नों में मूझंना छोड़ मनमनाभव रहो, बाप और वर्से को याद करो, पवित्र बनो और बनाओ”
प्रश्नः- शिवबाबा तुम बच्चों से अपनी पूजा नहीं करवा सकते हैं, क्यों?
उत्तर:- बाबा कहते – मैं तुम बच्चों का मोस्ट ओबीडियन्ट सर्वेन्ट हूँ। तुम बच्चे मेरे मालिक हो। मैं तो तुम बच्चों को नमस्ते करता हूँ। बाप है निरहंकारी। बच्चों को भी बाप समान बनना है। मैं तुम बच्चों से अपनी पूजा कैसे कराऊंगा। मेरे पैर भी नहीं हैं, जिसको तुम धुलाई करो। तुम्हें तो खुदाई खिदमतगार बन विश्व की सेवा करनी है।
गीत:- निर्बल से लड़ाई बलवान की….. 

ओम् शान्ति। निराकार शिव भगवानुवाच। शिवबाबा निराकार है और आत्मायें जो शिवबाबा कहती हैं वह भी असुल में निराकार हैं। निराकारी दुनिया में रहने वाले हैं। यहाँ पार्ट बजाने के लिए साकार बने हैं। अब हम सबको तो पैर हैं। कृष्ण को भी पांव हैं। पैर पूजते हैं ना। शिवबाबा कहते हैं मैं तो हूँ ओबीडियन्ट, मेरे पैर हैं नहीं जो तुमसे पैर धुलाऊं वा पूजा कराऊं। सन्यासी पैर धुलाते हैं ना। गृहस्थी लोग जाकर उनके पैर धोते हैं। पैर तो मनुष्यों के हैं। शिवबाबा को पैर ही नहीं हैं, जो तुमको पैर की पूजा करनी पड़े। यह है पूजा की सामग्री। बाप कहते हैं मैं तो ज्ञान का सागर हूँ। मैं अपने बच्चों से कैसे पैर धुलाऊंगा? बाप तो कहते हैं वन्दे मातरम्। माताओं को फिर क्या कहना है? हाँ, खड़े होकर कहेंगे शिवबाबा नमस्ते। जैसे सलाम मालेकम् कहते हैं ना। सो भी बाप को पहले नमस्ते करना पड़ता है। कहते हैं आई एम मोस्ट ओबीडियन्ट। बेहद का सर्वेन्ट हूँ। निराकार और निरहंकारी कितना है। पूजा की तो बात ही नहीं। मोस्ट बिलवेड चिल्ड्रेन, जो मिलकियत के मालिक बनते हैं, उनसे कैसे पूजा करायेंगे? हाँ, छोटे बच्चे बाप के पांव पड़ते हैं क्योंकि बाप बड़ा है। परन्तु वास्तव में तो बाप बच्चों का भी सर्वेन्ट है। जानते हैं कि बच्चों को माया बहुत तंग करती है। बहुत कड़ा पार्ट है। बहुत अपार दु:ख अजुन आने वाले हैं। यह सारी बेहद की बात है, तब ही बेहद का बाप आते हैं। बाप कहते हैं दाता मैं एक ही हूँ, अन्य किसी को भी दाता नहीं कह सकते। बाप से सब मांगते हैं। साधू लोग भी मुक्ति मांगते हैं। भारत के गृहस्थी लोग भगवान् से जीवनमुक्ति मांगते हैं। तो दाता एक हो गया। गाया भी हुआ है – सर्व का सद्गति दाता एक। साधू लोग जब खुद ही साधना करते हैं तो औरों को फिर गति-सद्गति कैसे दे सकते हैं? मुक्तिधाम और जीवनमुक्तिधाम दोनों का प्रोपराइटर एक ही बाप है। वह अपने समय पर आते हैं एक ही बार। और सभी जन्म-मरण में आते रहते हैं। यह एक ही बार आते हैं जबकि रावण का राज्य खत्म होना होता है। उसके पहले आ नहीं सकते। ड्रामा में पार्ट ही नहीं है। तो बाप कहते हैं तुमने मेरे द्वारा मुझे अब पहचाना है। मनुष्य नहीं जानते तो सर्वव्यापी कह दिया है।

अभी तो है रावण राज्य। भारतवासी ही रावण को जलाते रहते हैं। तो सिद्ध है रावण राज्य भारत में है, रामराज्य भी भारत में हैं। यह बातें रामराज्य स्थापन करने वाला ही समझाते हैं कि कैसे अब रावण राज्य है। यह कौन समझाते हैं? निराकार शिव भगवानुवाच। आत्मा को शिव नहीं कहेंगे। आत्मायें हैं सब सालिग्राम। शिव एक को ही कहा जाता है। सालिग्राम तो अनेक होते हैं। यह है रुद्र ज्ञान यज्ञ। वह ब्राह्मण लोग जो यज्ञ रचते हैं, उसमें एक बड़ा शिवलिंग और छोटे-छोटे सालिग्राम बनाकर पूजा करते हैं। देवियों आदि की पूजा तो वर्ष-वर्ष होती है। यह तो रोज़ मिट्टी के बनाते हैं और पूजा करते हैं। रुद्र का बड़ा मान होता है। सालिग्राम कौन है, वह तो जानते नहीं। तुम शिवशक्ति सेना पतितों को पावन बनाती हो। शिव की पूजा तो होती है। सालिग्राम कहाँ जायें? तो बहुत मनुष्य रुद्र यज्ञ रच सालिग्रामों की पूजा करते हैं। शिवबाबा के साथ बच्चों ने भी मेहनत की है। शिवबाबा के मददगार हैं। उन्हों को कहा जाता है खुदाई खिदमगार। खुद निराकार भी जरूर कोई शरीर में आयेंगे ना। स्वर्ग में तो खिदमत की दरकार नहीं। शिवबाबा कहते हैं देखो यह मेरे खिदमतगार बच्चे हैं। नम्बरवार तो हैं ना। सबकी पूजा तो कर न सकें। यह यज्ञ भी भारत में ही होते हैं। यह राज़ बाप ही समझाते हैं। वह ब्राह्मण लोग वा सेठ लोग थोड़ेही जानते हैं। वास्तव में यह है रुद्र ज्ञान यज्ञ। बच्चे पवित्र बन भारत को स्वर्ग बनाते हैं। यह बड़ी हॉस्पिटल है, जहाँ योग द्वारा हम एवरहेल्दी बनते हैं। बाप कहते हैं मुझे याद करो। देह-अहंकार पहला नम्बर विकार है जो योग तोड़ता है। बॉडीकान्सेस होते हो, बाप को भूलते हो तब ही फिर और विकार आ जाते हैं। यह योग निरन्तर लगाना बड़ी मेहनत है। मनुष्य कृष्ण को भगवान् समझ उनकी पूजा करते हैं। परन्तु वह पतित-पावन तो है नहीं, जो उनके पैर पूजे जायें। शिव तो है ही बिगर पांव। वह तो आकर माताओं का सर्वेंन्ट बनते हैं और कहते हैं बाप और स्वर्ग को याद करो तो फिर तुम 21 जन्म राज्य करेंगे। 21 पीढ़ी गाई हुई हैं। और धर्मों में नहीं गायी जाती। किसी भी धर्म वाले को 21 जन्म स्वर्ग की बादशाही नहीं मिलती है। यह भी ड्रामा बना हुआ है। देवता धर्म वाले जो और धर्मो में मिक्स हो गये हैं वह फिर निकल आयेंगे। स्वर्ग के सुख तो अपरमपार हैं। नई दुनिया, नये मकान में अच्छा सुख होता है। थोड़ा पुराना होने में कुछ न कुछ दाग हो जाते हैं फिर रिपेयर किया जाता है। तो जैसे बाप की महिमा अपरमपार है वैसे स्वर्ग की महिमा भी अपरमपार है, जिसका मालिक बनने का तुम पुरुषार्थ कर रहे हो। और कोई स्वर्ग का मालिक बना न सके।

तुम बच्चे जानते हो विनाश की सीन बड़ी दर्दनाक है। उनके पहले बाप से वर्सा ले लेना चाहिए। बाप कहते हैं अब मेरे बनो अर्थात् ईश्वरीय गोद लो। शिवबाबा बड़ा है ना। तो तुमको प्राप्ति बहुत है। स्वर्ग के सुख अपरमपार हैं। नाम सुनते ही मुख पानी होता है। कहते भी हैं फलाना स्वर्ग पधारा। स्वर्ग प्यारा लगता है ना। यह तो है ही नर्क, जब तक सतयुग न हो तब तक स्वर्ग में कोई जा न सके। बाप समझाते हैं यह जगदम्बा जाकर फिर स्वर्ग की महारानी लक्ष्मी बनती है फिर बच्चे भी नम्बरवार बनते हैं। मम्मा-बाबा जास्ती पुरुषार्थ करते हैं। राज्य तो वहाँ बच्चे भी करेंगे ना। सिर्फ लक्ष्मी-नारायण तो नहीं करेंगे। तो बाप आकर मनुष्य से देवता बनाते हैं, पढ़ाते हैं। अगर कहते कृष्ण बनाते हैं तो फिर कृष्ण को तो ले गये हैं द्वापर में। द्वापर में तो देवता होते नहीं। सन्यासी कह न सकें कि हम स्वर्ग जाने के लिए रास्ता बताते हैं। उसके लिए तो भगवान् चाहिए। कहते हैं मुक्ति-जीवनमुक्ति के द्वार कलियुग के अन्त में खुलेंगे। यह है रुद्र ज्ञान यज्ञ। मैं हूँ शिव, रुद्र और यह हैं सालिग्राम। यह सब शरीरधारी हैं। मैंने शरीर का लोन लिया हुआ है। यह सब ब्राह्मण हैं। ब्राह्मण बिगर यह ज्ञान कोई में होता नहीं। शूद्रों में भी नहीं है। सतयुग में देवी-देवतायें तो पारसबुद्धि थे, जो बाप ही अब बनाते हैं। सन्यासी किसको पारसबुद्धि बना न सकें। भल खुद पवित्र हैं फिर भी बीमार हो पड़ते हैं। स्वर्ग में कभी बीमार नहीं पड़ेंगे। वहाँ तो अपार सुख हैं इसलिए बाप कहते हैं पूरा पुरुषार्थ करो। रेस होती है ना। यह है रुद्र माला में पिरोने की रेस। अहम् आत्मा को दौड़ी लगानी है योग की। जितना योग लगायेंगे तो समझेंगे यह तीखा दौड़ रहा है। उनके विकर्म विनाश होते जायेंगे। तुम उठते-बैठते, चलते-फिरते यात्रा पर हो। बुद्धियोग की यह बहुत अच्छी यात्रा है। तुम कहते हो ऐसे स्वर्ग के अपरमपार सुख पाने के लिये पवित्र क्यों नहीं रहेंगे। हमको माया हिला नहीं सकती। प्रतिज्ञा करनी होती है। अन्तिम जन्म है, मरना तो है ही, तो क्यों नहीं बाप से वर्सा ले लेवें। कितने बाबा के बच्चे हैं। प्रजापिता है, तो जरूर नई रचना रचते हैं। नई रचना होती है ब्राह्मणों की। ब्राह्मण हैं रूहानी सोशल वर्कर। देवता तो प्रालब्ध भोगते हैं। तुम भारत की सर्विस करते हो इसलिए तुम ही स्वर्ग के मालिक बनते हो। भारत की सर्विस करने में सबकी सर्विस हो जाती है। तो यह है रुद्र ज्ञान यज्ञ। रुद्र शिव को कहा जाता है, न कि कृष्ण को। कृष्ण तो सतयुग का प्रिन्स है। वहाँ यह यज्ञ आदि होंगे नहीं। अभी है रावण राज्य। यह खलास होना है। फिर कभी रावण बनायेंगे ही नहीं। बाप ही आकर इन जंजीरों से छुड़ाते हैं। इस ब्रह्मा को भी जंजीरों से छुड़ाया ना। शास्त्र पढ़ते-पढ़ते क्या हालत हुई है! तो बाप कहते हैं अब मुझे याद करो। बाप को याद करने की हिम्मत नहीं है। पवित्र रहते नहीं, फालतू प्रश्न पूछते रहते हैं। तो बाप कहते हैं मनमनाभव। अगर किसी बात में मूंझते हो तो उसको छोड़ दो, मनमनाभव। ऐसे नहीं कि प्रश्न का रेसपॉन्स नहीं मिला तो पढ़ना ही छोड़ दो। कहते हैं भगवान् है तो रेसपॉन्स क्यों नहीं देते? बाप कहते हैं तुम्हारा काम है बाप और वर्से से। चक्र को भी याद करना पड़े। वह भी त्रिमूर्ति और चक्र दिखाते हैं। लिखते हैं – ”सत्य मेव जयते” परन्तु अर्थ नहीं समझते। तुम समझा सकते हो – शिवबाबा को याद किया तो सूक्ष्मवतन वासी ब्रह्मा-विष्णु-शंकर भी याद आयेंगे और स्वदर्शन चक्र को याद करने से विजयन्ति हो जायेंगे। ‘जयते’ माना माया पर जीत पहनेंगे। कितनी समझ की बात है। यहाँ कायदे हैं – हंसों की सभा में बगुले बैठ न सकें। बी.के. जो स्वर्ग की परी बनाती हैं, उन पर बड़ी रेसपॉन्सिबिलिटी है। पहले जब कोई आते हैं तो उनसे हमेशा यह पूछो – आत्मा के बाप को जानते हो? प्रश्न जो पूछते हैं तो जरूर जानते होंगे। सन्यासी आदि ऐसे कभी नहीं पूछेंगे। वह तो जानते ही नहीं। तुम तो प्रश्न पूछेंगे – बेहद के बाप को जानते हो? पहले तो सगाई करो। ब्राह्मणों का धन्धा ही यह है। बाप कहते हैं – हे आत्मायें, मेरे साथ योग लगाओ क्योंकि मेरे पास आना है। सतयुगी देवी-देवतायें बहुतकाल से अलग रहे हैं तो पहले-पहले ज्ञान भी उनको ही मिलेगा। लक्ष्मी-नारायण ने 84 जन्म पूरे किये हैं तो उनको ही पहले ज्ञान मिलना चाहिए।

मनुष्य सृष्टि का जो झाड़ है, उसका पिता है ब्रह्मा और आत्मा का पिता है शिव। तो बाप और दादा है ना। तुम हो उनके पोत्रे। उनसे तुमको ज्ञान मिलता है। बाप कहते हैं मैं जब नर्क में आऊं तब तो स्वर्ग रचूं। शिव भगवानुवाच – लक्ष्मी-नारायण त्रिकालदर्शी नहीं हैं। उनको यह रचता-रचना का ज्ञान है नहीं, तो परम्परा कैसे चले? कई समझते हैं यह तो सिर्फ कहते रहते हैं – मौत आया कि आया। होता तो कुछ नहीं है। इस पर एक मिसाल भी है ना – उसने कहा शेर आया, शेर आया, परन्तु शेर आया नहीं। आखिर एक दिन शेर आ गया, बकरियाँ सब खा गया। यह बातें सब यहाँ की हैं। एक दिन काल खा जायेगा, फिर क्या करेंगे? भगवान् का कितना भारी यज्ञ है। परमात्मा के सिवाए तो इतना बड़ा यज्ञ कोई रच न सके। ब्रह्मा वंशी ब्राह्मण कहलाकर पवित्र न बना तो यह मरा। शिवबाबा से प्रतिज्ञा करनी होती है। मीठा बाबा, स्वर्ग का मालिक बनाने वाला बाबा मैं तो आपका हूँ, अन्त तक आपका होकर रहूँगा। ऐसे बाप को अथवा साजन को फारकती दी तो महाराजा-महारानी बन नहीं सकेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सच्चा खुदाई खिदमतगार बन भारत को स्वर्ग बनाने में बाप को पवित्रता की मदद करनी है, रूहानी सोशल वर्कर बनना है।

2) किसी भी प्रकार के प्रश्नों मे मूंझकर पढ़ाई नहीं छोड़नी है। प्रश्नों को छोड़ बाप और वर्से को याद करना है।

वरदान:- स्व परिवर्तन और विश्व परिवर्तन की जिम्मेवारी के ताजधारी सो विश्व राज्य के ताजधारी भव
जैसे बाप के ऊपर, प्राप्ति के ऊपर हर एक अपना अधिकार समझते हो, ऐसे स्व परिवर्तन और विश्व परिवर्तन दोनों के जिम्मेवारी के ताजधारी बनो तब विश्व राज्य के ताज अधिकारी बनेंगे। वर्तमान ही भविष्य का आधार है। चेक करो और नॉलेज के दर्पण में देखो कि ब्राह्मण जीवन में पवित्रता का, पढ़ाई और सेवा का डबल ताज है? यदि यहाँ कोई भी ताज अधूरा है तो वहाँ भी छोटे से ताज के अधिकारी बनेंगे।
स्लोगन:- सदा बापदादा की छत्रछाया के अन्दर रहो तो विघ्न-विनाशक बन जायेंगे।
Font Resize