2 september ki murli

TODAY MURLI 2 SEPTEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 2 September 2020

02/09/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are spiritual guides. You have to show everyone the path to the abode of peace, that is, to the abode of immortality.
Question: What intoxication do you children have and, what words of faith do you say on the basis of that intoxication?
Answer: You children have the intoxication that you will become pure for birth after birth by remembering the Father. You say with faith that, no matter how many obstacles come, heaven is definitely going to be established. Establishment of the new world and destruction of the old world are definitely going to take place. This is the predestined drama. There is no question of doubt about this.

Om shanti. The spiritual Father explains to you spiritual children. You know that you are souls and that, at this time, you have become spiritual guides. You become this and also make others the same. Imbibe these things very well. Storms of Maya make you forget these things. You should think about these things every morning and night. We are given these invaluable jewels for an invaluable life by the spiritual Father. Therefore, the spiritual Father explains: Children, you are now spiritual guides in order to show the path to the land of liberation. This is the true story of immortality for going to the land of immortality. You are becoming pure in order to go to the land of immortality. How could impure, corrupt souls go to the land of immortality? People make a pilgrimage to Amarnath (Lord of Immortality). Heaven is also called the land of the Lord of Immortality. It wouldn’t just be the Lord of Immortality who resides there. All of you souls are going to the land of immortality. That land of immortality, paramdham (the supreme abode) is for souls. Then you go to the land of immortality and take bodies. Who takes you to your abode? The Supreme Father, the Supreme Soul, takes all souls back there. That place can also be called the land of immortality. However, the right name for it is the land of peace. Everyone has to go there. The destiny of the drama cannot be prevented. Instil this very well into your intellects. First of all, consider yourselves to be souls. The Supreme Father, the Supreme Soul, is also a soul. It is just that He is called the Supreme Father, the Supreme Soul, and He is explaining to us. He alone is the Ocean of Knowledge and the Ocean of Purity. In order to make you children pure, He now gives you this shrimat: Constantly remember Me alone and your sins of birth after birth will be cut away. Remembrance is called yoga. You are children. Therefore, you have to remember the Father. Only by having remembrance will your boat go across. You will go from this land of poison to the land of Shiva and then to the land of Vishnu. We are studying here to go there, not for here. Those who become kings here become those by donating wealth. Some look after the poor very well. Some build hospitals and some build dharamshalas, etc. Others simply donate wealth. Mulchand, especially, in Sindh, used to go and donate money to the poor. He used to look after the poor very well. There are many donors like that. They wake up at dawn and go out in the morning and take food to donate and share out to the poor. Nowadays, there is a lot of cheating. Donations should be given to those who are worthy. Some donors don’t even have that much wisdom! To give a donation to someone sitting outside begging is not a true donation. That is their business. Those who donate to the poor receive a good status. You are all now spiritual guides. When you open an exhibition or a museum you should write a name that shows that you are the guides to heaven or the guides to the kingdom of the new world. However, human beings don’t understand anything. This is the forest of thorns. Heaven is the garden of flowers where the deities reside. You children should have the intoxication that you are becoming pure for birth after birth by remembering the Father. You know that, no matter how many obstacles come, heaven is definitely going to be established. Establishment of the new world and destruction of the old world are definitely going to take place. This is predestined in the drama and there is no question of doubt about this. You should not have the slightest doubt about it. Everyone says: O Purifier! They say in English: Come and liberate us from sorrow. The five vices have brought sorrow. That is the viceless world, the land of happiness. You children now have to go to heaven. People think that heaven is up above. They don’t know that the abode of liberation is up above. The Father explains to you that everyone has to come down here for liberation-in-life. Imbibe this very well and only churn knowledgeStudents at home only think about the paper they have to complete and hand in and the other things they have to do. Therefore, you children have to make your souls satopradhan for your own benefit. You have to become pure in order to go to the land of liberation. Then, by studying knowledge you become deities. A soul says: I am going to become a barrister from an ordinary man. I, this soul, am becoming a Governor from an ordinary man. It is the soul that becomes that with the body. When his body is dead, that soul has to start studying again. It is souls that make the effort to become the masters of the world. The Father says: Remember very well that you are souls. Deities don’t have to be told this. They don’t have to stay in remembrance because they are already pure; they are experiencing their reward. They are not impure that they would have to remember the Father. You souls are impure. This is why you have to remember the Father. They don’t need to remember Him. This is a drama; no two days are the same. This drama continues to move along. Each part continues to change, second by second, throughoutthe whole day; it continues to be shot. The Father says to you children: Don’t have heart failure about anything! These are aspects of knowledge. You may carry on with your business etc., but also make full effort for your future elevated status. You also have to live in your households with your families. Kumaris have not started a household. A householder is someone who has a family and children, etc. The Father teaches everyone: half-kumaris and kumaris too. People don’t understand the meaning of “half-kumaris”. Is it that they only have half a body? You now understand that a kumari is someone who is pure and that a half-kumari is someone who becomes pure after becoming impure. Your memorial is kept here. The Father explains to you children. He is teaching you. You understand that you are souls who know about the incorporeal world. You also know how the sun and moon dynasty kingdoms are ruled, and why a bow and arrow have been shown to symbolize warriors. There is no question of war, etc. There is no question of devils or of any stealing, etc. There is no such Ravan who abducts Sita. Therefore, the Father explains: Sweetest children, you understand that you are the guides to heaven, to liberation and to liberation-in-life. Those people are physical guides whereas we are spiritual guides. They are iron-aged brahmins. We are studying to become the most elevated of all. We are now at the most elevated confluence age. Baba continues to explain in many different ways. In spite of that, some become body conscious and forget. There then isn’t the intoxication of being a soul, a child of the Father. The more you continue to stay in remembrance, the more your body consciousness will continue to break. Continue to take care of yourselves. Check yourself: Has my body consciousness broken? We are now going home. We will then become the masters of the world. Our parts are the hero and heroine parts. The name, hero or heroine, is given to someone who becomes victorious. It is because you gain victory at this time that you are given the name hero or heroine. You didn’t have this before now. Those who are defeated are not called heroes or heroines. You children understand that you are now to become heroes and heroines. Your parts are the highest on high. There is a lot of difference between shells and diamonds. Even though someone may be a millionaire or a billionaire, you know that all of it is going to be destroyed. You souls are continuing to become wealthy and everyone else is becoming bankrupt. All of these things have to be imbibed. Keep your faith. When you are here, your intoxication rises but, as soon as you go outside, it falls. The things you hear here are left behind here. The Father says: It should remain in your intellects that the Father is teaching you a study through which you change from ordinary humans into deities. There is no question of difficulty about this. You can find some time at your work to stay in remembrance. This is also a business for you. You can take leave and go and remember Baba. This is not telling lies. You mustn’t waste the whole day just like that. We should have some thought for our future. There are many tactics. Make as much time as possible to remember the Father. You have to carry on with your business etc., for the livelihood of your bodies. I am giving you very good advice on how to become the masters of the world. You children are also those who give this advice to everyone else. Advisers give advice. You are advisers; you show everyone the path to attain liberation and liberation-in-life in this birth. When people make slogans they put them up on a wall, just as you write: Be Holy and Raja Yogi. However, they won’t understand anything through that. You now understand that you are receiving this inheritance from the Father. There is also the inheritance of the land of liberation. You call Me the Purifier. Therefore, I come and advise you to become pure. You too are advisers. No one can go to the land of liberation until the Father advises you and gives you shrimat. Shrimat means the elevated directions of Shiv Baba. Souls receive shrimat from Shiv Baba. It is said: “Sinful soul”, “charitable soul”. “Sinful body” is not said. Souls commit sin through their bodies and this is why “sinful soul” is said. Without a body, a soul can neither commit sin nor perform charity. Therefore, churn the ocean of knowledge as much as possible; you have plenty of time. You can teach this study with great tact to a teacher or professor through which he can benefit. What would you achieve through those physical studies? We are teaching you this. Only a few more days remain and destruction is just ahead. There should be great enthusiasm inside you about how to show human beings the path. A daughter was given a test paper in which she was asked: Who is the God of the Gita? She wrote: The God of the Gita is Shiva. She was then failed. She believed that she was writing the Father’s praise by saying that the God of the Gita is Shiva. He is the Ocean of Knowledge and the Ocean of Love. The Krishna soul is also receiving knowledge. This is what she wrote and was failed. She told her parents that she was not going to study that study any more and would become engaged in this spiritual study. That daughter is very first class. She said beforehand that that was what she would write and that she would be failed. However, the truth has to be written. As you make progress, they will come to understand that what that daughter wrote was the truth. When your influence spreads and they are invited to the exhibitions and museums, they will come to have realisation and it will enter their intellects that she was right. Many people come here. Therefore, you have to think about what to do so that people can quickly understand that this is something new. Those who belong here will definitely understand. You are showing everyone the spiritual path. The poor experience so much suffering. How can their suffering be removed? There is a lot of conflict. They become one another’s enemies and kill one another. The Father now explains to you children very well. The poor mothers are without understanding. They say: We are uneducated. The Father says: It’s good that you haven’t studied. You have to forget all the Vedas and scriptures that you have been studying up to now. Now listen to what I tell you. You should explain: No one, except the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, can grant salvation. How could people who don’t have spiritual knowledge grant salvation? The Bestower of Salvation, the Ocean of Knowledge, is only One. Human beings do not say this. Those who belong here will try to understand this. If even one eminent person were to emerge, the sound would spread. There is the praise: No one listened to Tulsidas, who was poor. Baba shows you many ways to do service and you children have to put them into practice. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and Good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to claim a high status in the future, carry on with your business etc., and make full effort to stay in remembrance. This drama continues to change second by second. Therefore, don’t have heart failure on seeing any scene of the drama.
  2. Study this spiritual study and teach everyone. Bring benefit to everyone. There should be enthusiasm inside you about how to advise everyone to become pure and show them the way home.
Blessing: May you be a world server who gives visions of alokik power by doing double service.
Just as the Father’s form is of the World Server, in the same way, you too are world servers, like the Father. You do physical service with your bodies while being busy doing the service of world transformation with your minds. Let there be service done with the body and the mind taking place simultaneously. Those who do service with their minds and with their deeds at the same time enable others to experience and see that they have alokik power. Therefore, make this practice constant and natural. For serving with your mind, especially increase the practice of concentration.
Slogan: Be one who picks up virtues from everyone but who follows Father Brahma.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 2 SEPTEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 2 September 2020

Murli Pdf for Print : – 

02-09-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम हो रूहानी पण्डे, तुम्हें सबको शान्तिधाम अर्थात् अमरपुरी का रास्ता बताना है”
प्रश्नः- तुम बच्चों को कौन-सा नशा है, उस नशे के आधार पर कौन-से निश्चय के बोल बोलते हो?
उत्तर:- तुम बच्चों को यह नशा है कि हम बाप को याद कर जन्म-जन्मान्तर के लिए पवित्र बनते हैं। तुम निश्चय से कहते हो कि भल कितने भी विघ्न पड़ें लेकिन स्वर्ग की स्थापना तो जरूर होनी ही है। नई दुनिया की स्थापना और पुरानी दुनिया का विनाश होना ही है। यह बना-बनाया ड्रामा है, इसमें संशय की बात ही नहीं।

ओम् शान्ति। रूहानी बच्चों प्रति रूहानी बाप समझा रहे हैं। तुम जानते हो हम आत्मा हैं। इस समय हम रूहानी पण्डे बने हैं। बनते भी हैं, बनाते भी हैं। यह बातें अच्छी रीति धारण करो। माया का तूफान भुला देता है। रोज़ सुबह-शाम यह विचार करना चाहिए-यह अमूल्य रत्न अमूल्य जीवन के लिए रूहानी बाप से मिलते हैं। तो रूहानी बाप समझाते हैं – बच्चों, तुम अभी रूहानी पण्डे वा गाइड्स हो – मुक्तिधाम का रास्ता बताने लिए। यह है सच्ची-सच्ची अमरकथा, अमरपुरी में जाने की। अमरपुरी में जाने के लिए तुम पवित्र बन रहे हो। अपवित्र भ्रष्टाचारी आत्मा अमरपुरी में कैसे जायेगी? मनुष्य अमरनाथ की यात्रा पर जाते हैं, स्वर्ग को भी अमरनाथ पुरी कहेंगे। अकेला अमरनाथ थोड़ेही होता है। तुम सब आत्मायें अमरपुरी जा रही हो। वह है आत्माओं की अमरपुरी परमधाम फिर अमरपुरी में आते हैं शरीर के साथ। वहाँ कौन ले जाते हैं? परमपिता परमात्मा सभी आत्माओं को ले जाते हैं। उसको अमरपुरी भी कह सकते हैं। परन्तु राइट नाम शान्तिधाम है। वहाँ तो सबको जाना ही है। ड्रामा की भावी टाली नाहि टले। यह अच्छी रीति बुद्धि में धारण करो। पहले-पहले तो आत्मा समझो। परमपिता परमात्मा भी आत्मा ही है। सिर्फ उनको परमपिता परमात्मा कहते हैं, वह हमको समझा रहे हैं। वही ज्ञान का सागर है, पवित्रता का सागर है। अब बच्चों को पवित्र बनाने के लिए श्रीमत देते हैं कि मामेकम् याद करो तो तुम्हारे जन्म-जन्मान्तर के पाप कट जायेंगे। याद को ही योग कहा जाता है। तुम तो बच्चे हो ना। बाप को याद करना है। याद से ही बेड़ा पार है। इस विषय नगरी से तुम शिव नगरी में जायेंगे फिर विष्णुपुरी में आयेंगे। हम पढ़ते ही हैं वहाँ के लिए, यहाँ के लिए नहीं। यहाँ जो राजायें बनते हैं, वह धन दान करने से बनते हैं। कई हैं जो गरीबों की बहुत सम्भाल करते हैं, कोई हॉस्पिटल, धर्मशालायें आदि बनाते हैं, कोई धन दान करते हैं। जैसे सिन्ध में मूलचन्द था, गरीबों के पास जाकर दान करते थे। गरीबों की बहुत सम्भाल करते थे। ऐसे बहुत दानी होते हैं। सुबह को उठकर अन्न की मुट्ठी निकालते हैं, गरीबों को दान करते हैं। आजकल तो ठगी बहुत लगी हुई है। पात्र को दान देना चाहिए। वह अक्ल तो है नहीं। बाहर में जो भीख मांगने वाले बैठे रहते हैं उनको देना, वह भी कोई दान नहीं। उन्हों का तो यह धन्धा है। गरीबों को दान करने वाला अच्छा पद पाते हैं।

अब तुम हो सब रूहानी पण्डे। तुम प्रदर्शनी वा म्युज़ियम खोलते हो तो ऐसा नाम लिखो जो सिद्ध हो जाए गाइड टू हेविन वा नई विश्व की राजधानी के गाइड्स। परन्तु मनुष्य कुछ भी समझते नहीं हैं। यह है ही कांटों का जंगल। स्वर्ग है फूलों का बगीचा, जहाँ देवतायें रहते हैं। तुम बच्चों को यह नशा रहना चाहिए कि हम बाप को याद कर जन्म-जन्मान्तर के लिए पवित्र बनते हैं। तुम जानते हो भल कितने भी विघ्न पड़ें स्वर्ग की स्थापना तो जरूर होनी है। नई दुनिया की स्थापना और पुरानी दुनिया का विनाश होना ही है। यह बना-बनाया ड्रामा है, इसमें संशय की बात ही नहीं। ज़रा भी संशय नहीं लाना चाहिए। यह तो सब कहते हैं पतित-पावन। अंग्रेजी में भी कहते हैं आकर लिबरेट करो दु:ख से। दु:ख है ही 5 विकारों से। वह है ही वाइसलेस वर्ल्ड, सुखधाम। अभी तुम बच्चों को जाना है स्वर्ग में। मनुष्य समझते हैं स्वर्ग ऊपर में है, उन्हों को यह पता नहीं है कि मुक्तिधाम ऊपर में है। जीवनमुक्ति में तो यहाँ ही आना है। यह बाप तुम्हें समझाते हैं, उनको अच्छी रीति धारण कर नॉलेज का ही मंथन करना है। स्टूडेन्ट भी घर में यही ख्याल करते रहते हैं-यह पेपर भरकर देना है, आज यह करना है। तो तुम बच्चों को अपने कल्याण के लिए आत्मा को सतोप्रधान बनाना है। पवित्र बन मुक्तिधाम में जाना है और नॉलेज से फिर देवता बनते हैं। आत्मा कहती है ना हम मनुष्य से बैरिस्टर बनते हैं। हम आत्मा मनुष्य से गवर्नर बनते हैं। आत्मा बनती है शरीर के साथ। शरीर खत्म हो जाता है तो फिर नयेसिर पढ़ना पड़ता है। आत्मा ही पुरूषार्थ करती है विश्व का मालिक बनने। बाप कहते हैं यह पक्का याद कर लो कि हम आत्मा हैं, देवताओं को ऐसे नहीं कहना पड़ता, याद नहीं करना पड़ता क्योंकि वह तो है ही पावन। प्रालब्ध भोग रहे हैं, पतित थोड़ेही हैं जो बाप को याद करें। तुम आत्मा पतित हो इसलिए बाप को याद करना है। उनको तो याद करने की दरकार नहीं। यह ड्रामा है ना। एक भी दिन एक समान नहीं होता। यह ड्रामा चलता रहता है। सारे दिन का पार्ट सेकण्ड बाई सेकण्ड बदलता रहता है। शूट होता रहता है। तो बाप बच्चों को समझाते हैं, कोई भी बात में हार्टफेल मत हो। यह ज्ञान की बातें हैं। भल अपना धन्धा आदि भी करो, परन्तु भविष्य ऊंच पद पाने के लिए पूरा पुरूषार्थ करो। गृहस्थ व्यवहार में भी रहना है। कुमारियाँ तो गृहस्थ में गई ही नहीं हैं। गृहस्थी उनको कहा जाता जिनको बाल बच्चे हैं। बाप तो अधरकुमारी और कुमारी सबको पढ़ाते हैं। अधरकुमारी का भी अर्थ नही समझते। क्या आधा शरीर है? अभी तुम जानते हो कन्या पवित्र है और अधर कन्या उनको कहा जाता है जो अपवित्र बनने के बाद फिर पवित्र बनती है। तुम्हारा ही यादगार खड़ा है। बाप ही तुम बच्चों को समझाते हैं। बाप तुमको पढ़ा रहे हैं। तुम जानते हो हम आत्मायें मूलवतन को भी जानते हैं, फिर सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी कैसे राज्य करते हैं, क्षत्रियपने की निशानी बाण क्यों दिया है, वह भी तुम जानते हो। लड़ाई आदि की तो बात है नहीं। न असुरों की बात है, न चोरी की बात सिद्ध होती है। ऐसा तो कोई रावण होता नहीं जो सीता को ले जाए। तो बाप समझाते हैं मीठे-मीठे बच्चे, तुम समझते हो हम हैं हेविन के, मुक्ति-जीवनमुक्ति के पण्डे। वह हैं जिस्मानी पण्डे। हम हैं रूहानी पण्डे। वह हैं कलियुगी ब्राह्मण। पुरूषोत्तम बनने के लिए पढ़ रहे हैं। हम पुरूषोत्तम संगमयुग पर हैं। बाबा अनेक प्रकार से समझाते रहते हैं। फिर भी देह-अभिमान में आने से भूल जाते हैं। मैं आत्मा हूँ, बाप का बच्चा हूँ, वह नशा नहीं रहता है। जितना याद करते रहेंगे उतना देह-अभिमान टूटता जायेगा। अपनी सम्भाल करते रहो। देखो, हमारा देह-अभिमान टूटा है? हम अभी जा रहे हैं फिर हम विश्व के मालिक बनेंगे। हमारा पार्ट ही हीरो-हीरोइन का है। हीरो-हीरोइन नाम तब पड़ता है जब कोई विजय पाते हैं। तुम विजय पाते हो तब तुम्हारा हीरो-हीरोइन का नाम पड़ता है इस समय, इनसे पहले नहीं था। हारने वाले को हीरो-हीरोइन नहीं कहेंगे। तुम बच्चे जानते हो हम अभी जाकर हीरो-हीरोइन बनते हैं। तुम्हारा पार्ट ऊंच ते ऊंच है। कौड़ी और हीरे का तो बहुत फ़र्क है। भल कोई कितने भी लखपति वा करोड़पति हो परन्तु तुम जानते हो यह सब विनाश हो जायेंगे।

तुम आत्मायें धनवान बनती जाती हो। बाकी सब देवाले में जा रहे हैं। यह सब बातें धारण करनी हैं। निश्चय में रहना है। यहाँ नशा चढ़ता है, बाहर जाने से नशा उतर जाता है। यहाँ की बातें यहाँ रह जाती हैं। बाप कहते हैं बुद्धि में रहे – बाप हमको पढ़ा रहे हैं। जिस पढ़ाई से हम मनुष्य से देवता बन जायेंगे। इसमें तकलीफ की कोई बात नहीं। धन्धे आदि से भी कुछ टाइम निकाल याद कर सकते हो। यह भी अपने लिए धन्धा है ना। छुट्टी लेकर जाए बाबा को याद करो। यह कोई झूठ नहीं बोलते हैं। सारा दिन ऐसे ही थोड़ेही गंवाना है। हम भविष्य का तो कुछ ख्याल करें। युक्तियाँ बहुत हैं, जितना हो सके टाइम निकाल बाप को याद करो। शरीर निर्वाह के लिए धन्धा आदि भी भल करो। हम तुमको विश्व का मालिक बनने की बहुत अच्छी राय देते हैं। तुम बच्चे भी सबको राय देने वाले ठहरे। वजीर राय के लिए होते हैं ना। तुम एडवाइजर हो। सबको मुक्ति-जीवनमुक्ति कैसे मिलें, इस जन्म में वह रास्ता बताते हो। मनुष्य स्लोगन आदि बनाते हैं तो दीवार में ऊपर लगा देते हैं। जैसे तुम लिखते हो ‘बी होली एण्ड राजयोगी’। परन्तु इनसे समझेंगे नहीं। अभी तुम समझते हो हमको बाप से यह वर्सा मिल रहा है, मुक्तिधाम का भी वर्सा है। मुझे तुम पतित-पावन कहते हो तो मैं आकर राय देता हूँ, पावन बनने की। तुम भी एडवाइजर हो। मुक्तिधाम में कोई भी जा नहीं सकते, जब तक बाप एडवाइज़ न करे, श्रीमत न दे। श्री अर्थात् श्रेष्ठ मत है ही शिवबाबा की। आत्माओं को श्रीमत मिलती है शिवबाबा की। पाप आत्मा, पुण्य आत्मा कहा जाता है। पाप शरीर नहीं कहेंगे। आत्मा शरीर से पाप करती है इसलिए पाप आत्मा कहा जाता है। शरीर बिगर आत्मा न पाप, न पुण्य कर सकती है। तो जितना हो सके विचार सागर मंथन करो। टाइम तो बहुत है। टीचर वा प्रोफेसर है तो उनको भी युक्ति से यह रूहानी पढ़ाई पढ़ानी चाहिए, जिससे कल्याण हो। बाकी इस जिस्मानी पढ़ाई से क्या होगा। हम यह पढ़ाते हैं। बाकी थोड़े दिन हैं, विनाश सामने खड़ा है। अन्दर उछल आती रहेगी – कैसे मनुष्यों को रास्ता बतायें।

एक बच्ची को पेपर मिला था जिसमें गीता के भगवान की बात पूछी गई थी। तो उसने लिख दिया गीता का भगवान शिव है, तो उनको नापास कर दिया। समझती थी हम तो बाप की महिमा लिखती हूँ – गीता का भगवान शिव है। वह ज्ञान का सागर है, प्रेम का सागर है। कृष्ण की आत्मा भी ज्ञान पा रही है। यह बैठ लिखा तो फेल हो गई। माँ-बाप को कहा – हम यह नहीं पढ़ेंगी। अभी इस रूहानी पढ़ाई में लग जाऊंगी। बच्ची भी बड़ी फर्स्टक्लास है। पहले ही कहती थी हम ऐसा लिखूँगी, नापास हो जाऊंगी। परन्तु सच तो लिखना है ना। आगे चलकर समझेंगे बरोबर इस बच्ची ने जो लिखा था वह सत्य है। जब प्रभाव निकलेगा वा प्रदर्शनी अथवा म्युज़ियम में उनको बुलायेंगे तो पता चलेगा और बुद्धि में आयेगा यह तो राइट है। ढेर के ढेर मनुष्य आते हैं तो विचार करना है ऐसा करें जो मनुष्य झट समझ जायें कि यह कोई नई बात है। कोई न कोई जरूर समझेंगे, जो यहाँ के होंगे। तुम सबको रूहानी रास्ता बताते हो। बिचारे कितने दु:खी हैं, उन सबके दु:ख कैसे दूर करें। खिटपिट तो बहुत है ना। एक-दो के दुश्मन बनते हैं तो कैसे खलास कर देते हैं। अब बाप बच्चों को अच्छी रीति समझाते रहते हैं। मातायें तो बिचारी अबोध होती हैं। कहती हैं हम पढ़ी-लिखी नहीं हैं। बाप कहते हैं नहीं पढ़े तो अच्छा है। वेद-शास्त्र जो कुछ पढ़े हैं वह सब यहाँ भूल जाना है। अभी मैं जो सुनाता हूँ, वह सुनो। समझाना चाहिए – सद्गति निराकार परमपिता परमात्मा बिगर कोई कर न सके। मनुष्यों में ज्ञान ही नहीं तो वह फिर सद्गति कैसे कर सकते। सद्गति दाता ज्ञान का सागर है ही एक। मनुष्य ऐसा थोड़ेही कहेंगे, जो यहाँ के होंगे वही समझने की कोशिश करेंगे। एक भी कोई बड़ा आदमी निकल पड़े तो आवाज़ होगा। गायन है तुलसीदास गरीब की कोई न सुनें बात। सर्विस की युक्तियाँ तो बाबा बहुत बतलाते हैं, बच्चों को अमल में लाना चाहिए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) धंधा आदि करते भविष्य ऊंच पद पाने के लिए याद में रहने का पूरा-पूरा पुरूषार्थ करना है। यह ड्रामा सेकण्ड बाई सेकण्ड बदलता रहता है इसलिए कभी कोई सीन देखकर हार्टफेल नहीं होना है।

2) यह रूहानी पढ़ाई पढ़कर दूसरों को पढ़ानी है, सबका कल्याण करना है। अन्दर यही उछल आती रहे कि हम कैसे सबको पावन बनने की एडवाइज़ दें। घर का रास्ता बतायें।

वरदान:- डबल सेवा द्वारा अलौकिक शक्ति का साक्षात्कार कराने वाले विश्व सेवाधारी भव
जैसे बाप का स्वरूप ही है विश्व सेवक, ऐसे आप भी बाप समान विश्व सेवाधारी हो। शरीर द्वारा स्थूल सेवा करते हुए मन्सा से विश्व परिवर्तन की सेवा पर तत्पर रहो। एक ही समय पर तन और मन से इक्ट्ठी सेवा हो। जो मन्सा और कर्मणा दोनों साथ-साथ सेवा करते हैं, उनसे देखने वालों को अनुभव व साक्षात्कार हो जाता कि यह कोई अलौकिक शक्ति है इसलिए इस अभ्यास को निरन्तर और नेचुरल बनाओ। मन्सा सेवा के लिए विशेष एकाग्रता का अभ्यास बढ़ाओ।
स्लोगन:- सर्व प्रति गुणग्राहक बनो लेकिन फालो ब्रह्मा बाप को करो।

TODAY MURLI 2 SEPTEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 2 September 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 1 September 2019:- Click Here

02/09/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, this is a wonderful spiritual gathering (satsung) where you are taught to die alive. Only those who die alive become swans.
Question: What one concern do you children now have?
Answer: That you have to become complete before destruction takes place. The children who become strong in knowledge and yoga develop the hobby of changing human beings into deities. They cannot stay without doing service. They continue to run around like genies. Together with doing service, they also have the concern to make themselves complete.

Om shanti. The spiritual Father sits here and explains to you spiritual children. You spirits are now in corporeal forms and children of Prajapita Brahma, because you have been adopted. Everyone says about you that you make everyone into brothers and sisters. The Father has explained to you children that, in reality, you souls are brothers. When the new world is being created, first of all Brahmins, the topknots, are needed. You were shudras and have now been transferred. Brahmins are definitely needed. The name of Prajapita Brahma is very well known. In connection with that, you understand that all of you are children and that you are brothers and sisters. All those who call themselves Brahma Kumars and Kumaris are definitely brothers and sisters; they are all children of Prajapita Brahma. So, they are definitely brothers and sisters. You have to explain this to those who don’t understand. There are those who are without understanding and there is also blind faith. Whomever they worship, they have faith in that one or believe that that one is so-and-so, but they don’t know anything about that one. They worship Lakshmi and Narayan, but none of them knows when they came, how they became like that on where they went to. Human beings who knew Nehru etc. would also know their history and geography. If they don’t know the biography of someone, of what use is that? They worship them, but they don’t know their life stories. They know the life stories of human beings, but they don’t know the life story of a single one of the great ones who have been and gone. There are so many worshippers of Shiva. They worship Him and then say that He is in the pebbles and stones or that He is in every particle. Is that a life story? That is not anything sensible. They call themselves impure. The word “impure” is so right! Impure means vicious. You can explain why you are called Brahma Kumars and Kumaris. It is because you are adopted children of Brahma. You are not a physical creation but a mouth-born creation. Brahmins are brothers and sisters. So, they cannot have a criminal eye for one another. The worst thoughts are those of lust. You say that you children of Prajapita Brahma become brothers and sisters. You understand that all of you are brothers, children of Shiv Baba. This is also firm. The world doesn’t know anything at all. They simply say that for the sake of saying it. You can explain that the Father of all souls is that One. Everyone calls out to Him. You have also shown the pictures. Prominent religious people also believe in this incorporeal Father. He is the incorporeal Father of souls. Then, the father of everyone in the corporeal form is Prajapita Brahma. Through him expansion then takes place and the tree continues to grow; they continue to come down into different religions. The soul is detached from this body. They see the body and say, “That one is an American” or “That one is so-and-so.” They do not say this of the soul. All souls reside in the land of peace. They come from there to play their parts. You can tell those of any religion that everyone takes rebirth and that new souls also continue to come down from up above. So, the Father explains: You too are human beings. It is only human beings who have to know about the beginning, middle and end of the world, how this world cycle turns, who its Creator is and how long it takes for it to turn. Only you know this. Deities do not know this. Only human beings learn this and then become deities. It is the Father that changes human beings into deities. The Father gives you His own introduction and also the introduction of the creation. You know that you are the children, the seeds of the Father, who is the Seed. Just as the Father knows this inverted tree, similarly, we too know it now. Human beings cannot explain this to human beings, but the Father has explained it to you. Unless you become the children of Brahma, you cannot come here. Until someone has taken the full course and understood everything, how could he or she be allowed to sit in a gathering of Brahmins? This is also called the Court of Indra. Indra does not shower rain. It is called the Court of Indra. You are the ones who have to become angels. Many types of angels have been remembered. Some children are very beautiful and so it is said: This one is like an angel. Some become beautiful by putting on powder etc. In the golden age, you become angels, princesses. You are now becoming angels, that is, deities, by bathing in the ocean of knowledge. You know what you are becoming from what you were. The Traveller, who is the ever pure and ever beautiful Father, enters an ugly body in order to make you the same as Himself. So, now, who can make you beautiful? Baba has to make you that. The world cycle has to turn. You now have to become beautiful. Only the one Father is the Ocean of Knowledge who teaches you. He is the Ocean of Knowledge and the Ocean of Love. The praise that is sung of that Father cannot be the praise of a physical father. It is praise of only the unlimited Father. Everyone calls out to Him alone: Come and make us worthy of that praise. You are now becoming that, numberwise, according to the effort you make. Not everyone can be the same in studying; there is the difference of day and night. Many people will come to you. They definitely have to become Brahmins. Some study well and others study less. Those who are best in studying would also be able to teach others. You can understand that there are so many colleges being built. Baba also says: Open a college where anyone can understand that they receive in that college the knowledge of the Creator and the beginning, middle and end of creation. The Father only comes in Bharat, and so colleges only continue to open in Bharat. As you progress further, they will continue to open abroad too. Many colleges and universities are needed where many will go and study. Then, when the study is over, everyone will be transferred to the deity religion, that is, they will change from human beings into deities. You become deities from human beings. It is remembered that it didn’t take God long to change human beings into deities. Here, this is the human world, whereas that is the world of deities. There is the difference of day and night between deities and human beings. In the day, there are deities whereas in the night, there are human beings; they are all devotees, worshippers. You are now becoming worthy of worship from worshippers. In the golden age, there is no mention of the scriptures or devotion etc. There, all are deities. Human beings are devotees. It is human beings who then become deities. That is the divine world, whereas this is called the devilish world. There is the kingdom of Rama (God) and the kingdom of Ravan. Previously, your intellects were not aware of what the kingdom of Ravan is or when Ravan came; you didn’t know anything. They say that Lanka sank beneath the sea. They also say the same about Dwaraka. You now know that this whole Lanka is going to drown. The whole world is an unlimited lanka (island). All of it will drown and there will be water everywhere. However, heaven doesn’t drown. There was an abundance of wealth. The Father has explained that the Muslims looted so much from the one Somnath Temple. Look how nothing remains there now! There was so much wealth in Bharat. Bharat itself was called heaven. Would you call it heaven now? It is now hell. It will then become heaven. Who creates heaven and who creates hell? You now know this. It has also been shown for how long Ravan’s kingdom continues. There are so many religions in the kingdom of Ravan. In the kingdom of Rama, there are just the sun dynasty and the moon dynasty. You are now studying. This study is not in the intellect of anyone else. Those people are in the kingdom of Ravan. The kingdom of Rama exists in the golden age. The Father says: I make you worthy. You then become unworthy. Why are you called unworthy? Because you become impure. The praise of the worthiness of the deities and of your unworthiness is remembered. The Father explains: When you were worthy of worship, it was the new world and there were very few human beings. Only you were the masters of the whole world. You should now have a lot of happiness. You become brothers and sisters. Those people say that you break up homes and families; they are the ones who then come and take these teachings. When they come here, they understand that this knowledge is very good. They understand the meaning of everything. How could you have purity without considering yourselves to be brothers and sisters? Everything depends on purity. The Father comes into the impure land which is a very degraded and impure land. Their food and drink are also impure. The Father says: I only enter the body that has been through many births and is at the end of those. This one takes 84 births. The one who was last then becomes the first and the first one then becomes the last one. The example is given of only one. Your dynasty is going to be created. The better you continue to understand, the more people will come to you. As yet, this is still a very small tree and it experiences many storms too. In the golden age, there is no question of storms. New souls continue to come down from up above. Here, as soon as they experience storms, they fall. There, there are no storms of Maya. Here, people die whilst just sitting somewhere. There is also your war with Maya; she also harasses you. This will not happen in the golden age. None of these things happen in any other religion. No one else can understand about the kingdom of Rama and the kingdom of Ravan. Although people go to spiritual gatherings, there is no question there of living and dying. Here, children are adopted. You say that you are the children of Shiv Baba and that you claim the inheritance from Him. If you fall whilst receiving this inheritance, the inheritance also finishes and you change from swans into storks. Nevertheless, the Father is merciful and so He continues to explain to you. Some climb up again. Those who remain stable are said to be mahavirs, Hanuman. You are mahavirs, mahavirnis; it is numberwise. The strongest of all are called mahavirs. Adi Dev is also called Mahavir and from him are born these mahavirs, who then rule the world. You make effort, numberwise, to gain victory over Ravan. Ravan is the five vices. This is something to understand. The Father is now opening the locks on your intellects and then the locks will be completely locked. Here, too, there are some whose locks are opened and so they go and do service. The Father says: Go and do service!Remove from the gutter those who have fallen into it. It shouldn’t be that you also fall into the gutter. You have to come out of it and you must also remove others from it. There is limitless sorrow in the river of poison. You are now to go where there is limitless happiness. Praise is sung of the One who gives you an abundance of happiness. Would there be any praise of Ravan who causes sorrow? Ravan is called the devil. The Father says: You were in the kingdom of Ravan and you have now come here to receive an abundance of happiness. You receive such an abundance of happiness. So, you should have so much happiness but you should also remain cautious. Positions are numberwise. The position of every actor is different. God cannot exist in everyone. The Father sits here and explains everything to you. You know the Father and the beginning, middle and end of creation, numberwise, according to the effort you make. Marks are given, numberwise, according to how you study. This is an unlimited study. You children should pay a lot of attention to this. You should not miss this study for a single day. We are students and it is God, the Father, who is teaching us! You children should always have this intoxication. God speaks. It is just that they have changed the name and inserted Krishna’s name. By mistake, they have understood it to be the versions of God Krishna because Krishna is next to God. He is number one in the heaven that the Father establishes. You have now received this knowledge. You benefit yourselves, numberwise, according to the effort you make, and you also continue to benefit others. Such ones would not feel happy without doing service. When you children become strong in yoga and knowledge, you will work like genies. You will then develop the hobby of changing human beings into deities. You have to pass before death comes. You have a lot of service to do. At the end, there will be a war and there will also be natural calamities. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to become first from being last make effort like a mahavir. Do not be shaken by storms of Maya. Become merciful like the Father and do the service of opening the locks on the intellects of human beings.
  2. Bathe daily in the ocean of knowledge and become angels. Do not miss this study for a single day. Maintain the intoxication: “We are God’s students.
Blessing: May you be surrender and die alive by saying “My Baba” from your heart and making a true deal.
To become a Brahma Kumar or Kumari means to surrender. When you say “My Baba” from your heart, Baba says, “Child, everything is yours!” Whether you live in a household or at a centre, when you say “My Baba” from your heart, the Father makes you belong to Him. This is a deal of the heart, not a physical deal made with words. To surrender means to stay within the line of shrimat. Only those who have surrendered in this way are Brahmins who have died alive.
Slogan: If you have love for the word “mine”, then merge all the “mines” in the one “My Baba”.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 2 SEPTEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 2 September 2019

To Read Murli 1 September 2019:- Click Here
02-09-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – यह वन्डरफुल सतसंग है जहाँ तुम्हें जीते जी मरना सिखलाया जाता है, जीते जी मरने वाले ही हंस बनते हैं”
प्रश्नः- तुम बच्चों को अभी कौन-सी एक फिकरात है?
उत्तर:- हमें विनाश के पहले सम्पन्न बनना है। जो बच्चे ज्ञान और योग में मजबूत होते जाते हैं, उन्हें मनुष्य को देवता बनाने की हॉबी (आदत) होती जाती है। वह सर्विस के बिना रह नहीं सकते हैं। जिन्न की तरह भागते रहेंगे। सर्विस के साथ-साथ स्वयं को भी सम्पन्न बनाने की चिंता होगी।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप बैठ रूहानी बच्चों को समझाते हैं – रूह अब साकार में है और फिर प्रजापिता ब्रह्मा की सन्तान है क्योंकि एडाप्ट किये हुए हैं। तुम्हारे लिए सब कहते हैं यह भाई-बहन बनाती हैं। बच्चों को बाप ने समझाया है असुल में तुम आत्मायें भाई-भाई हो। अब नई सृष्टि होती है तो पहले-पहले ब्राह्मण चोटी चाहिए। तुम शूद्र थे, अभी ट्रांसफर हुए हो। ब्राह्मण भी तो चाहिए जरूर। प्रजापिता ब्रह्मा का नाम तो बाला है। इस हिसाब से तुम समझते हो हम सब बच्चे – भाई बहिन ठहरे। जो भी अपने को ब्रह्माकुमार-कुमारी कहलाते हैं वह जरूर भाई-बहन ठहरे। सभी प्रजापिता ब्रह्मा की सन्तान हैं तो भाई-बहिन जरूर होना चाहिए। यह समझाना है बेसमझों को। बेसमझ भी हैं और फिर ब्लाइन्ड फेथ भी है। जिनकी पूजा करते हैं, फेथ रखते हैं यह फलाना है, परन्तु उसे जानते कुछ भी नहीं। लक्ष्मी-नारायण की पूजा करते हैं परन्तु वह कब आये, कैसे बनें, फिर कहाँ गये? कोई भी नहीं जानते। कोई भी मनुष्य नेहरू आदि को जानते हैं, तो उन्हों की हिस्ट्री-जॉग्राफी का भी सब पता है। अगर बायोग्राफी को नहीं जानते तो वह क्या काम का। पूजा करते हैं, परन्तु उनकी जीवन कहानी को नहीं जानते। मनुष्यों की जीवन कहानी को तो जानते हैं परन्तु जो बड़े पास्ट हो गये हैं, उनकी एक की भी जीवन कहानी को नहीं जानते। शिव के कितने ढेर पुजारी हैं। पूजा करते हैं, फिर मुख से कह देते वह तो पत्थर-भित्तर में है, कण-कण में है। क्या यह जीवन कहानी ठहरी? यह तो अक्ल की बात नहीं हुई। अपने को भी पतित कहते हैं। पतित अक्षर कितना फिट है। पतित माना विकारी। तुम समझा सकते हो कि हम ब्रह्माकुमार-कुमारी क्यों कहलाते हैं? क्योंकि ब्रह्मा की औलाद हैं और एडाप्टेड हैं। हम कुख वंशावली नहीं, मुख वंशावली हैं। ब्राह्मण-ब्राह्मणियां तो भाई-बहिन ठहरे ना। तो उनकी आपस में क्रिमिनल आई हो न सके। खराब ख्यालात मुख्य हैं ही काम के। तुम कहते हो हम प्रजापिता ब्रह्मा की सन्तान भाई-बहिन बनते हैं। तुम समझते हो हम सब हैं शिवबाबा की सन्तान भाई-भाई। यह भी पक्का है। दुनिया को कुछ भी पता नहीं है। ऐसे ही सिर्फ कह देते हैं। तुम समझा सकते हो सभी आत्माओं का बाप वह एक है। उनको सब पुकारते हैं। तुमने चित्र भी दिखाया है। बड़े-बड़े धर्म वाले भी इस निराकार बाप को मानते हैं। वह है निराकार आत्माओं का बाप और फिर साकार में सभी का बाप प्रजापिता ब्रह्मा है जिनसे फिर वृद्धि को पाते रहते हैं, झाड़ बढ़ता जाता है। भिन्न-भिन्न धर्मों में आते जाते हैं। आत्मा तो इस शरीर से न्यारी है। शरीर को देखकर कहते हैं – यह अमेरिकन है, यह फलाना है। आत्मा को तो नहीं कहते। आत्मायें सब शान्तिधाम में रहती हैं। वहाँ से आती हैं पार्ट बजाने। तुम कोई भी धर्म वाले को सुनाओ, पुनर्जन्म तो सब लेते हैं और ऊपर से भी नई आत्मायें आती रहती हैं। तो बाप समझाते हैं – तुम भी मनुष्य हो, मनुष्य को ही तो सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का मालूम होना चाहिए कि यह सृष्टि चक्र कैसे घूमता है, इनका रचयिता कौन है, कितना समय इनके फिरने में लगता है? यह तुम ही जानते हो, देवतायें तो नहीं जानते हैं। मनुष्य ही जानकर फिर देवता बनते हैं। मनुष्य को देवता बनाने वाला है बाप। बाप अपना और रचना का भी परिचय देते हैं। तुम जानते हो हम बीजरूप बाप के बीजरूप बच्चे हैं। जैसे बाप इस उल्टे वृक्ष को जानते हैं, वैसे हम भी जान गये हैं। मनुष्य, मनुष्य को कभी यह समझा न सके। परन्तु तुमको बाप ने समझाया है।

जब तक तुम ब्रह्मा के बच्चे नहीं बने हो तब तक यहाँ आ नहीं सकते। जब तक पूरा कोर्स लेकर समझते नहीं हैं तब तक तुम ब्राह्मणों की सभा में बैठा कैसे सकते। इसको इन्द्र सभा भी कहते हैं। इन्द्र कोई वह पानी की बरसात नहीं बरसाते हैं। ‘इन्द्र सभा’ कहा जाता है। परियां भी तुमको बनना है। अनेक प्रकार की परियां गाई हुई हैं। कोई बच्चे अच्छे शोभावान होते हैं तो कहते हैं ना यह तो जैसे परी है। पाउडर आदि लगाकर सुन्दर बन जाते हैं। सतयुग में तुम बनते हो परियां, परीजादे। अभी तुम ज्ञान सागर में ज्ञान स्नान करने से परियां (देवी-देवता) बन जाते हो। तुम जानते हो हम क्या से क्या बन रहे हैं। जो सदा प्योर बाप है, सदा खूबसूरत है, वह मुसाफिर तुमको ऐसा बनाने के लिए सांवरे तन में प्रवेश करते हैं। अब गोरा कौन बनावे? बाबा को बनाना पड़े ना। सृष्टि का चक्र तो फिरना है। अब तुमको गोरा बनना है। पढ़ाने वाला ज्ञान सागर एक ही बाप है। ज्ञान का सागर, प्रेम का सागर है। उस बाप की जो महिमा गाई जाती है, वह लौकिक बाप की थोड़ेही हो सकती है। बेहद के बाप की ही महिमा है। उनको ही सब पुकारते हैं कि हमको ऐसी महिमा वाला आकर बनाओ। अभी तुम बन रहे हो ना, नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार। पढ़ाई में सब एकरस नहीं होते हैं। रात-दिन का फर्क रहता है ना। तुम्हारे पास भी बहुत आयेंगे। ब्राह्मण जरूर बनना है। फिर कोई अच्छी रीति पढ़ते हैं, कोई कम। जो पढ़ाई में सबसे अच्छा होगा तो दूसरों को भी पढ़ा सकेंगे। तुम समझ सकते हो, इतने कॉलेज निकलते रहते हैं। बाबा भी कहते हैं कॉलेज ऐसा बनाओ जो कोई भी समझ सके कि इस कॉलेज में रचता और रचना के आदि, मध्य, अन्त का नॉलेज मिलता है। बाप भारत में ही आते हैं तो भारत में ही कॉलेज खुलते रहते हैं। आगे चल विदेश में भी खुलते जायेंगे। बहुत कॉलेज, युनिवर्सिटीज़ चाहिए ना। जहाँ बहुत आकर पढ़ेंगे फिर जब पढ़ाई पूरी होगी तो देवी-देवता धर्म में सब ट्रांसफर हो जायेंगे अर्थात् मनुष्य से देवता बन जायेंगे। तुम मनुष्य से देवता बनते हो ना। गायन भी है – मनुष्य से देवता किये……। यहाँ यह है मनुष्यों की दुनिया, वह है देवताओं की दुनिया। देवताओं और मनुष्यों में रात-दिन का फर्क है! दिन में हैं देवतायें, रात में हैं मनुष्य। सब भक्त ही भक्त हैं, पुजारी हैं। अभी तुम पुजारी से पूज्य बनते हो। सतयुग में शास्त्र, भक्ति आदि का नाम नहीं होता है। वहाँ हैं सब देवता। मनुष्य होते हैं भक्त। मनुष्य ही फिर देवता बनते हैं। वह है दैवी दुनिया, इसको कहा जाता है आसुरी दुनिया। राम राज्य और रावण राज्य। आगे तुम्हारी बुद्धि में यह थोड़ेही था कि रावण राज्य किसको कहा जाता है? रावण कब आया? कुछ भी पता नहीं था। कहते हैं लंका समुद्र में डूब गई। ऐसे ही फिर द्वारिका के लिए भी कहते हैं। अभी तुम जानते हो यह सारी लंका डूबने की है, सारी दुनिया भी बेहद की लंका है। यह सब डूब जायेगी, पानी आ जायेगा। बाकी स्वर्ग कोई डूबता थोड़ेही है। कितना अथाह धन था। बाप ने समझाया है एक ही सोमनाथ मन्दिर को मुसलमानों ने कितना लूटा। अभी देखो कुछ नहीं रहा है। भारत में कितना अथाह धन था। भारत को ही स्वर्ग कहा जाता है। अभी स्वर्ग कहेंगे? अभी तो नर्क है, फिर स्वर्ग बनेगा। स्वर्ग कौन, नर्क कौन बनाते हैं? यह अभी तुम जान गये हो। रावण राज्य कितना समय चलता है, वह भी बताया है। रावण राज्य में कितने अथाह धर्म हो जाते हैं। रामराज्य में तो सिर्फ सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी रहते हैं। अभी तुम पढ़ रहे हो। यह पढ़ाई और कोई की बुद्धि में नहीं है। वह तो है ही रावण राज्य में। रामराज्य होता है सतयुग में। बाप कहते हैं हम तुमको लायक बनाते हैं। फिर तुम न लायक बन जाते हो। न लायक क्यों कहते हैं? क्योंकि पतित बन जाते हो। देवताओं के लायकी की महिमा और अपनी न लायकी की महिमा गाते हैं।

बाप समझाते हैं – तुम जब पूज्य थे तो नई दुनिया थी। बहुत थोड़े मनुष्य थे। सारे विश्व के तुम ही मालिक थे। अभी तुमको खुशी बहुत होनी चाहिए। भाई-बहिन तो बनते हो ना। वह कहते यह घर फिटाते हैं। वही फिर आकर जब शिक्षा लेते हैं तो यहाँ आने से समझते हैं कि नॉलेज तो बहुत अच्छी है। अर्थ समझते हैं ना। भाई-बहिन बिगर पवित्रता कहाँ से आये। सारा मदार पवित्रता पर ही है। बाप आते भी हैं मगध देश में, जो कि बहुत गिरा हुआ देश है, बहुत पतित है, खान-पान भी गन्दा है। बाप कहते हैं मैं बहुत जन्मों के अन्त वाले शरीर में ही प्रवेश करता हूँ। यही 84 जन्म लेते हैं। लास्ट सो फिर फर्स्ट, फर्स्ट सो लास्ट। मिसाल तो एक का बतायेंगे ना। तुम्हारी डिनायस्टी बनने वाली है। जितना अच्छी रीति समझते जायेंगे, फिर तो तुम्हारे पास बहुत आयेंगे। अभी यह बहुत छोटा झाड़ है। तूफान भी बहुत लगते हैं। सतयुग में तूफानों की बात ही नहीं। ऊपर से नई-नई आत्मायें आती रहती हैं। यहाँ तूफान लगते ही गिर पड़ते हैं। वहाँ तो माया का तूफान होता ही नहीं। यहाँ तो बैठे-बैठे मर जाते हैं और फिर तुम्हारी माया के साथ युद्ध है, तो वह भी हैरान करती है। सतयुग में यह नहीं होगा। दूसरे कोई धर्म में ऐसी बात होती नहीं। रावण राज्य और राम राज्य को और कोई समझते ही नहीं हैं। भल सतसंग में जाते हैं, वहाँ मरने-जीने की बात नहीं होती। यहाँ तो बच्चे एडाप्ट होते हैं। कहते हैं हम शिवबाबा के बच्चे हैं, उनसे वर्सा लेते हैं। लेते-लेते फिर गिर पड़ते हैं तो वर्सा भी खलास। हंस से बदलकर बगुला बन जाते हैं। फिर भी बाप रहमदिल है तो समझाते रहते हैं। कोई फिर से चढ़ जाते हैं। जो थमे (स्थिर) रहते हैं, उनको कहेंगे महावीर, हनूमान। तुम हो महावीर-महावीरनी। नम्बरवार तो हैं ही। सबसे पहलवान को महावीर कहा जाता है। आदि देव को भी महावीर कहते हैं, जिससे ही यह महावीर पैदा होते हैं जो विश्व पर राज्य करते हैं। नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार रावण पर विजय पाने के लिए पुरूषार्थ करते रहते हैं। रावण हैं 5 विकार। यह तो समझ की बात है। अभी तुम्हारी बुद्धि का ताला बाप खोलते हैं। फिर ताला एकदम बन्द हो जाता है। यहाँ भी ऐसे हैं जिनका ताला खुलता है तो वह जाकर सर्विस करते हैं। बाप कहते हैं जाकर सर्विस करो, गटर में जो पड़े हैं उनको निकालो। ऐसे नहीं कि तुम भी गटर में गिरो। तुम बाहर निकल औरों को भी निकालो। विषय वैतरणी नदी में अपरम्पार दु:ख हैं। अभी अपरम्पार सुखों में चलना है। जो अपरम्पार सुख देते हैं, उनकी महिमा गाई जाती है। रावण जो दु:ख देते हैं, उनकी महिमा होगी क्या? रावण को कहा जाता है असुर। बाप कहते हैं तुम रावण राज्य में थे, अभी अपार सुख पाने के लिए तुम यहाँ आये हो। तुमको कितने अपार सुख मिलते हैं। खुशी कितनी रहनी चाहिए और खबरदार भी रहना चाहिए। पोजीशन तो नम्बरवार होती हैं। हर एक एक्टर का पोजीशन अलग है। सबमें तो ईश्वर हो न सके। बाप हर बात बैठ समझाते हैं। तुम बाप को और रचना के आदि-मध्य-अन्त को जान जाते हो नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार। नम्बरवार पढ़ाई पर ही मार्क्स होती हैं। यह है बेहद की पढ़ाई, इसमें बच्चों का बहुत अटेन्शन होना चाहिए। पढ़ाई एक रोज़ भी मिस न हो। हम हैं स्टूडेन्ट, गॉड फादर पढ़ाते हैं – वह नशा बच्चों को चढ़ा रहना चाहिए। भगवानुवाच, सिर्फ उन्हों ने नाम बदलकर कृष्ण का नाम डाल दिया है। भूल से कृष्ण भगवानुवाच समझ लिया है क्योंकि कृष्ण हुआ नेक्स्ट टू गॉड। स्वर्ग जो बाप स्थापन करते हैं उनमें नम्बरवन यह है ना। यह ज्ञान अभी तुमको मिला है। नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार अपना भी कल्याण करते हैं और दूसरों का भी कल्याण करते रहते हैं, उनको सर्विस बिगर कभी सुख नहीं आयेगा।

तुम बच्चे योग और ज्ञान में मजबूत हो जायेंगे तो काम ऐसे करेंगे जैसे जिन्न। मनुष्य को देवता बनाने की हॉबी (आदत) लग जायेगी। मौत के पहले ही पास होना है। सर्विस बहुत करनी है। पीछे तो लड़ाई लगेगी। नेचुरल कैलेमिटीज भी आयेंगी। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) लास्ट सो फर्स्ट जाने के लिए महावीर बन पुरूषार्थ करना है। माया के तूफानों में हिलना नहीं है। बाप समान रहमदिल बन मनुष्यों के बुद्धि का ताला खोलने की सेवा करनी है।

2) ज्ञान सागर में रोज़ ज्ञान स्नान कर परीज़ादा बनना है। एक दिन भी पढ़ाई मिस नहीं करनी है। भगवान के हम स्टूडेन्ट हैं – इस नशे में रहना है।

वरदान:- दिल से “मेरा बाबा” कहकर सच्चा सौदा करने वाले सरेन्डर वा मरजीवा भव
ब्रह्माकुमार कुमारी बनना माना सरेन्डर होना। जब दिल से कहते हो “मेरा बाबा” तो बाबा भी कहते बच्चे सब कुछ तेरा। चाहे प्रवृत्ति में हो, चाहे सेन्टर पर हो लेकिन जिसने दिल से कहा मेरा बाबा, तो बाप ने अपना बना लिया, यह दिल का सौदा है, मुख का स्थूल सौदा नहीं। सरेन्डर माना श्रीमत के अन्डर रहने वाले। ऐसे सरेन्डर होने वाले ही मरजीवा ब्राह्मण हैं।
स्लोगन:- अगर मेरा शब्द से प्यार है तो अनेक मेरे को एक मेरे बाबा में समा दो।

TODAY MURLI 2 SEPTEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 2 September 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 1 September 2018 :- Click Here

02/09/18
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
12/01/84

Always have powerful thoughts and speak powerful words.

Today, the Father who lives beyond sound has come into the world of sound in order to take all the children into the stage of being beyond sound, because there is the experience of deep happiness and peace in the stage of beyond sound. By becoming stable in the elevated stage of being beyond sound, you experience yourself to be equal to the Father in your perfect stage. People of today try many different things in order to attain the true peace of being beyond sound. They continue to adopt so many different methods. However, all of you are embodiments of peace, children of the Ocean of Peace, master oceans of peace. You stabilise in your stage of being an embodiment of peace in a second. You are experienced in this way, are you not? Do you practise coming into sound in a second and then going beyond and stabilising in your original religion beyond sound in a second? You are masters of your physical senses, are you not? You can come and perform actions whenever you want and then stabilise yourself in the karmateet stage of being beyond actions whenever you want. This is known as being detached one moment and being loving to all through action the next moment. You experience such controlling power and ruling power, do you not? Things that people of the world say are difficult are not only easy for you elevated souls, but they are extremely easy, because you are master almighty authorities. People of the world think: How can this be possible? They continue to wander around with their intellects and their bodies in that confusion, whereas what do you say? Can you have the thought: How will this happen? To ask how means a question mark. So, instead of saying, “How?”, the sound that emerges from you once again is, “This is how it happens”. To say, “This is how” means a “full stop”. So, the question mark changed and you put a full stop. What were you yesterday and what have you become today? There is a great difference, is there not? Do you believe that there is a great difference? Yesterday, you used to say, “Oh God!“, and today, instead of saying “OK!” you say, “Oho!”. Oho, sweet Baba! Not God, but Baba. From Him being far-away, you found the Father to be close to you. You searched for the Father and the Father found you in different corners. However, the Father didn’t have to work hard. You had to make a lot of effort. The Father had your introduction, but you didn’t have it. All of you sing songs of love. BapDada also sings songs of love for the children. BapDada sings the greatest song of love of all every day and, when you hear this song, the minds of all you loving children continue to dance in happiness. He sings these songs every day and this is why, as a memorial, a lot of importance is given to songs. The memorial of the Father’s song has been made into the Gita. From hearing the songs of the children and seeing the memorials of the different experiences of dancing in happiness, of being in happiness, bliss and joy, they created the Bhagawad. So, there is the memorial of both. Do you consider yourselves and experience yourselves to be such elevated, fortunate ones? There are many who consider themselves to be this, but only a handful out of multi-millions who experience themselves to be this. To be an image of experience means to be an experienced image who is complete and equal to the Father. Let there be the experience of every word and every relationship. Let there be the experience of the different attainments from each relationship. Let there be the experience of every power. Let there be the experience of every virtue. You can adopt the jewellery of virtues whenever you want. All of these virtues are the variety jewellery. According to the time and place, you can decorate yourself with the jewellery of virtues. Not only can you decorate yourself, but you can also donate virtues to others. Together with the donation of knowledge, the donation of virtues also has great importance. A soul who is a great donor of virtues will not imbibe the defects of others, even whilst seeing them. Such a soul will not be influenced by the defects of others but instead, by donating virtues, will transform the defects of others into virtues. Just as you give money to beggars and make them rich, in the same way, donate virtues to those who have defects and make them into images of virtues. Just as the donations of yoga, powers and service are very well known, the donation of virtues is also a special donation. By donating virtues to souls, you are able to make souls experience the sparkle of zeal and enthusiasm. So, have you become images who are the great donors of everything, that is, have you become images of experience?

Today, Baba has especially come to meet the double-foreign children. BapDada has already told you the speciality of the double-foreign children. Nevertheless, BapDada calls double-foreign children those with far-sighted intellects. Even from far away, you recognised the Father with your intellects and claimed all rights. BapDada has special love for the children who have far-sighted intellects, numberwise, according to their specialities. Are all of you those who have become moths and have come flying from your country to surrender yourselves to the Flame, or do some of you simply circle around? To surrender means to become equal. So, are you those who surrender yourselves or those who simply circle around? Which type is greater in number? Whoever you are and whatever you are like, BapDada likes you. Anyway, you have at least reached here having made such a lot of effort. So, always consider yourself to belong to the Father and you will always belong to the Father. This determined thought will constantly enable you to move forward. Don’t think about your weaknesses too much. By thinking about your weaknesses, you become even weaker. By saying that you are ill, you become doubly ill. “I am not that powerful. I am not able to have such good yoga. The service I do is not that good. Am I loved by Baba or not? I don’t know whether I will be able to continue or not.” These thoughts make you even weaker. Maya first tries in a very light form, and you then give it a bigger form and Maya takes her chance to become your companion. She is simply trying you out, but you don’t recognise this and think that you are like that and this is why she becomes your companion. Maya is the companion of the weak. Don’t repeatedly voice your weak thoughts or even think weak thoughts. By your thinking about it again and again, it becomes your form. Always think: If I don’t belong to Baba, who else will? I belonged to Baba. It was I who belonged to Baba… I will belong to Him every cycle. This thought makes you healthy and a conqueror of Maya. Weaknesses come later. You don’t recognise this and consider that to be the truth and so Maya makes you belong to her. They put on a play about Sita. He (Ravan) wasn’t a beggar, but Sita thought he was a beggar. He had simply come to test her and she thought he really was that. This is how, seeing her innocence, he made her belong to him. Here, too, wasteful and weak thoughts take on the form of Maya in order to test you. However, it is because you become innocent that she makes you belong to her. “I am like that!” Then, by making you say that, Maya creates a place for herself. You are not weak like that. You are powerful. You are master almighty authorities. You are the handful out of multi-millions who have been selected by BapDada. How could such souls be weak? To think in that way is to give a place to Maya. You give her a place and then you say that you have to get rid of her. But, why do you give her a place in the first place? None of you is weak. You are all masters. You are always courageous and always mahavirs. Have this elevated thought. You are constantly the Father’s companions. When you are a companion of the Father, Maya cannot make you her companion. Why have you come to Madhuban? (To leave Maya behind.) Madhuban is the great sacrificial fire, is it not? So, you have come to sacrifice everything in the great sacrificial fire. However, BapDada says: All of you have come to celebrate Vijaya Ashthmi (Dashera). You have come to celebrate the ceremony of applying the tilak of victory. You have become victorious and have come to celebrate the ceremony of applying the tilak of victory. All of you are clever at copying and saying, “Ji ha”. This too is a virtue. Here, too, all you have to do is copy the Father. To follow him means to copy him. This is easy, is it not? You have come here having left your country and so BapDada also leaves His land behind and comes here.

Does BapDada not have a family? He puts aside the task of the whole world and comes here. The household of the whole family is the Father’s family, is it not? For the Father, all are His children. He has to give a drop to everyone. He doesn’t give them the inheritance, but He does give them at least a drop. Achcha.

To the most elevated souls who have all rights and are equal to the Father, to those who are constantly great donors, the bestowers of blessings, to those who constantly experience themselves to be great by knowing the great difference, to those who are conquerors of Maya by constantly recognising Maya, to the elevated souls who are embodiments of all powers, to all the children in this land and abroad who remain lost in love, who have heart-to-heart conversations with the Father, who celebrate meeting the Father, who give their love and remembrance and also send it through letters, to all the children who write very sweet news and also give news of their loving efforts for the self, BapDada is seeing all of you personally in front of Him and giving love and remembrance. Together with this, He is also giving love-filled remembrance and saying namaste to the children who become moths and surrender themselves to the Flame, that is, to those children who become equal to the Father at every step.

Seeing all the maharathi brothers and sisters:

There is also a rosary of the children who are instruments for service. All of you special jewels have become instruments. The speciality of an instrument makes you an instrument. Brahma Baba has great pride in all of you because of one thing. What is he especially proud of? Brahma Baba has special pride in the form of unity that you children have demonstrated from the beginning by harmonising one another’s thoughts. Unity is the foundation of this Brahmin family. Therefore, Brahma Baba is proud of you children. Even though he lives in the subtle region, he sees all the activities.

BapDada meeting the London group:

All of you are those who become spiritual roses and, as flowers of the imperishable garden, give fragrance to others, are you not? All of you are spiritual roses and, seeing you spiritual roses, the whole world is attracted to you. Each of you spiritual roses is so valuable. You are invaluable and this is why, even now, the non-living images of all of you have value too. They give or receive each non-living image with so much value. It is just ordinary stone, silver or gold, and yet it has so much value. How much value would they place on a golden idol? How did it become so valuable? By belonging to the Father, you became constantly elevated. Constantly continue to sing songs of this fortune. Wah, my fortune! Wah, the Bestower of Fortune! And, wah, the confluence age! Wah, sweet drama! You know how to say, “Wah, wah!” for everything, do you not? You constantly sing songs of “Wah, wah!” do you not? BapDada is proud of the residents of London. London is the seed of the tree of service. Therefore, the residents of London are also the seed. Those from the UK means those who always remain OK; those who constantly keep a balance of studying and doing service; those who constantly experience progress at every step. Since you belong to the Father, you constantly have His company and His hand; every child has this over them. Do you experience this? Those who have the Father’s hand over them are always safe. You are those who are always safe, are you not? Maya cannot come to the group that is OK. Maya also says, “OK! OK!” for all time and bids you farewell and goes away. The UK, that is, the OK group has very elevated company. You have very good company and a powerful atmosphere and so how could Maya come? You remain constantly safe. The OK group means the group of those who are conquerors of Maya.

Speaking to the Mauritius group:

Do you always consider yourselves to be greatly fortunate? What did you receive as your fortune? You attained God as your fortune. You received the Bestower of Fortune Himself as your fortune – what can be greater fortune than this? So, you constantly have this happiness: We souls are the most fortunate souls in the world with the greatest fortune. Not just “we” but “we souls”. When you say “souls”, you will not have the wrong type of intoxication. By being soul conscious, you will have elevated intoxication – spiritual, Godly intoxication. Souls are fortunate and, even today, their fortune is being remembered. The Bhagwad is the memorial of your fortune. It is such imperishable fortune that it is remembered even today. Continue to move constantly forward in this happiness. Kumaris are free from bondage – free from the bondage of the body, free from the bondage of the mind. Only those who are free from bondage are able to experience the flying stage. Achcha.

Blessing: May you remain detached from your part and loving to the Father, while playing your part in service, and become an easy yogi.
Some children say that they are sometimes able to have yoga but not at other times. The reason for this is a lack of detachment. Because you are not detached, you do not experience and, where there is no love, there is no remembrance. The greater the love, the easier the remembrance. Therefore, do not play your part on the basis of your relationship but play your part in terms of service and you will remain detached. Be like a lotus and remain detached from the atmosphere of the old world and be loving to the Father, and you will become an easy yogi.
Slogan: A gyani soul is one who merges the word “excuse” and finds a solution for every situation.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 2 SEPTEMBER 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 2 September 2018

To Read Murli 1 September 2018 :- Click Here
02-09-18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 12-01-84 मधुबन

सदा समर्थ सोचो तथा वर्णन करो।

आज आवाज से परे रहने वाले बाप आवाज की दुनिया में आये हैं सभी बच्चों को आवाज से परे स्थिति में ले जाने के लिए क्योंकि आवाज से परे स्थिति में अति सुख और शान्ति की अनुभूति होती है। आवाज से परे श्रेष्ठ स्थिति में स्थित होने से सदा स्वयं को बाप समान सम्पन्न स्थिति में अनुभव करते हैं। आज के मानव आवाज से परे सच्ची शान्ति के लिए अनेक प्रकार के प्रयत्न करते रहते हैं। कितने साधन अपनाते रहते हैं। लेकिन आप सभी शान्ति के सागर के बच्चे शान्त स्वरूप, मास्टर शान्ति के सागर हो। सेकण्ड में अपने शान्ति स्वरूप की स्थिति में स्थित हो जाते हो। ऐसे अनुभवी हो ना। सेकण्ड में आवाज में आना और सेकण्ड में आवाज से परे स्वधर्म में स्थित हो जाना – ऐसी प्रैक्टिस है? इन कर्मेन्द्रियों के मालिक हो ना! जब चाहो कर्म में आओ, जब चाहो कर्म से परे कर्मातीत स्थिति में स्थित हो जाओ। इसको कहा जाता है अभी-अभी न्यारे और अभी-अभी कर्म द्वारा सर्व के प्यारे। ऐसी कन्ट्रोलिंग पावर, रूलिंग पावर अनुभव होती है ना। जिन बातों को दुनिया के मानव मुश्किल कहते वह मुश्किल बातें आप श्रेष्ठ आत्माओं के लिए सहज नहीं लेकिन अति सहज हैं क्योंकि मास्टर सर्वशक्तिवान हो। दुनिया के मानव तो समझते यह कैसे होगा! इसी उलझन में बुद्धि द्वारा, शरीर द्वारा भटकते रहते हैं और आप क्या कहेंगे? कैसे होगा – यह संकल्प कभी आ सकता है? कैसे अर्थात् क्वेश्चन मार्क। तो कैसे के बजाए फिर से यही आवाज निकलता कि ऐसे होता है। ऐसे अर्थात् फुलस्टाप। क्वेश्चन मार्क बदलकर फुलस्टाप लग गया है ना। कल क्या थे और आज क्या हो! महान अन्तर है ना। समझते हो कि महान अन्तर हो गया। कल कहते थे ओ गाड और आज ओ के बजाए ओहो कहते हो। ओहो मीठे बाबा! गाड नहीं लेकिन बाबा। दूर से नजदीक में बाप मिल गया। आपने बाप को ढूँढा तो बाप ने भी आप बच्चों को कोने-कोने से ढूँढ लिया। लेकिन बाप को मेहनत नहीं करनी पड़ी। आपको बहुत मेहनत करनी पड़ी क्योंकि बाप को परिचय था, आपको परिचय नहीं था। आप सभी भी स्नेह के गीत गाते हो। बापदादा भी बच्चों के स्नेह के गीत गाते हैं। सबसे बड़े ते बड़ा स्नेह का गीत रोज़ बापदादा गाते हैं। जिस गीत को सुन-सुन सभी स्नेही बच्चों का मन खुशी में नाचता रहता है। रोज़ गीत गाते इसीलिए यादगार में भी गीत का महत्व श्रेष्ठ रहा है। बाप के गीत का यादगार ”गीता” बना दी। और बच्चों के गीत सुन खुशी में नाचने और खुशी में, आनन्द में, सुख में भिन्न-भिन्न अनुभवों के यादगार – भागवत बना दिया है। तो दोनों का यादगार हो गया ना। ऐसे श्रेष्ठ भाग्यवान अपने को समझते हो वा अनुभव करते हो! समझने वाले अनेक होते हैं लेकिन अनुभव करने वाले कोटों में कोई होते हैं। अनुभवी मूर्त बाप समान सम्पन्न अनुभवी मूर्त हैं। हर बोल का, हर सम्बन्ध का अनुभव हो। सम्बन्ध द्वारा भिन्न-भिन्न प्राप्ति का अनुभव हो। हर शक्ति का अनुभव हो। हर गुण का अनुभव हो। जब चाहे तब गुणों के गहने को धारण कर सकते हो। यह सर्वगुण वैराइटी ज्वैलरी है। जैसा समय, जैसा स्थान हो वैसे गुणों के गहनों से स्वयं को सजा सकते हो। न सिर्फ स्वयं को लेकिन औरों को भी गुणों का दान दे सकते हो। ज्ञान दान के साथ-साथ गुण दान का भी बहुत महत्व है। गुणों की महादानी आत्मा कभी भी किसी के अवगुण को देखते हुए, धारण नहीं करेगी। किसी के अवगुण के संगदोष में नहीं आयेगी और ही गुणदान द्वारा दूसरे का अवगुण, गुण में परिवर्तन कर देंगी। जैसे धन के भिखारी को धन दे सम्पन्न बना देते हैं, ऐसे अवगुण वाले को गुण दान दे, गुणवान मूर्त बना दो। जैसे योग दान, शक्तियों का दान, सेवा का दान प्रसिद्ध है, तो गुण दान भी विशेष दान है। गुणदान द्वारा आत्मा में उमंग-उत्साह की झलक अनुभव करा सकते हो। तो ऐसे सर्व महादानी मूर्त अर्थात् अनुभवी मूर्त बने हो?

आज विशेष डबल विदेशी बच्चों से मिलने आये हैं। डबल विदेशी बच्चों की विशेषता तो बापदादा ने सुनाई है। फिर भी बापदादा डबल विदेशी बच्चों को दूरादेशी बुद्धि वाले बच्चे कहते हैं। दूर होते भी बुद्धि द्वारा बाप को पहचान अधिकारी बन गये हैं। ऐसे दूरादेशी बुद्धि वाले बच्चों पर विशेषता प्रमाण बापदादा का विशेष स्नेह है। सभी परवाने बन अपने-अपने देशों से उड़ते-उड़ते शमा पर जलने वाले हो वा कोई सिर्फ चक्र लगाने वाले भी हो। जलना अर्थात् समान बनना। तो जलने वाले हो वा चक्र लगाने वाले हो? ज्यादा संख्या कौन-सी है? जो भी हो, जैसे भी हो लेकिन बापदादा को पसन्द हो। फिर भी देखो कितनी मेहनत कर पहुँच तो गये ना इसलिए सदा अपने को समझो कि बाप के हैं और सदा ही बाप के रहेंगे। यह दृढ़ संकल्प सदा ही आगे बढ़ाता रहेगा। ज्यादा कमजोरियों को सोचो नहीं। कमजोरियों को सोचते-सोचते भी और कमजोर हो जाते हैं। मैं बीमार हूँ, बीमार हूँ, कहने से डबल बीमार हो जाते हैं। मैं इतनी शक्तिशाली नहीं हूँ, मेरा योग इतना अच्छा नहीं है, मेरी सेवा इतनी अच्छी नहीं है। मैं बाबा की प्यारी हूँ वा नहीं हूँ। पता नहीं आगे चल सकूँगी वा नहीं – यह सोच भी ज्यादा कमजोर बनाता है। पहले माया हल्के रूप में ट्रायल करती है और आप उसको बड़ा रूप कर देते हो तो माया को आपका साथी बनने का चाँस मिल जाता है। वह सिर्फ ट्रायल करती है लेकिन उसकी ट्रायल को न जानकर समझते हो कि मैं हूँ ही ऐसी, इसलिए वह भी साथी बन जाती है। कमजोरों की साथी माया है। कभी भी कमजोर संकल्पों को बार-बार न वर्णन करो, न सोचो। बार-बार सोचने से भी स्वरूप बन जाते हैं। सदा यह सोचो कि मैं बाबा का नहीं बनूँगा तो और कौन बनेगा! मैं ही था वा मैं ही थी। मैं ही हूँ। कल्प-कल्प मैं ही बनूँगी – यह संकल्प तन्दरूस्त, मायाजीत बना देंगे। कमजोरी पीछे आती है। आप उसको न पहचान सत्य समझ लेते हो तो माया अपना बना देती है। जैसे सीता का ड्रामा दिखाते हो ना। भिखारी था नहीं लेकिन सीता ने भिखारी समझ लिया। वह तो सिर्फ ट्रायल करने आया और उसे सच समझ लिया इसलिए उसने उनका भोलापन देख अपना बना लिया। यह भी व्यर्थ संकल्प, कमजोर संकल्प माया का रूप बन आते हैं, ट्रायल करने के लिए। लेकिन भोले बन जाते हो इसलिए वह अपना बना देती है। ”मैं हूँ ही ऐसी”, ऐसे करते-करते माया अपना स्थान बना देती है। ऐसे कमजोर हो नहीं। समर्थ हो। मास्टर सर्वशक्तिवान हो। बापदादा के चुने हुए कोटों में कोई हो। ऐसे कमजोर कैसे हो सकते! यह सोचना ही माया को स्थान देना है। स्थान देकर फिर-फिर यह कहते हो – अब निकालो। स्थान देते ही क्यों हो। कोई कमजोर नहीं। सब मास्टर हो। सदा बहादुर, सदा के महावीर हो। यही श्रेष्ठ संकल्प रखो। सदा बाप के साथी हैं। जहाँ बाप के साथी हैं वहाँ माया साथी बना नहीं सकती। मधुबन में किसलिए आये हो? (माया को छोड़ने) मधुबन महायज्ञ है ना। तो यज्ञ में स्वाहा करने आये हो लेकिन बापदादा कहते हैं सभी अपनी विजय अष्टमी मनाने आये हो। विजय के तिलक की सेरीमनी मनाने आये हो। विजयी बन करके विजय के तिलक की सेरीमनी मनाने आये हो ना। जी हाँ, कापी करने में सब होशियार हैं। यह भी गुण है। यहाँ भी बाप को कापी ही करना है। फालो करना अर्थात् कापी करना। यह तो सहज है ना। आप अपना देश छोड़कर आते हो तो बापदादा भी अपना देश छोड़कर आते हैं।

बापदादा की प्रवृत्ति नहीं है क्या! सारे विश्व के कार्य को छोड़ यहाँ आते हैं। विश्व की प्रवृत्ति बाप की प्रवृत्ति है ना। बाप के लिए तो सभी बच्चे हैं। अंचली तो सबको देनी है। वर्सा नहीं देते, अंचली तो देते हैं ना! अच्छा !

सर्व श्रेष्ठ अधिकारी बाप समान सदा महादानी, वरदानी आत्माओं को, सदा महान अन्तर द्वारा स्वयं को महान अनुभव करने वाले, सदा माया को पहचान मायाजीत, सर्व शक्ति स्वरूप श्रेष्ठ आत्माओं को, चारों ओर के देश-विदेश के, लगन में मगन रहने वाले, बाप से रूहरिहान करने वाले, बाप से मिलन मनाने वाले, यादप्यार देने और पत्रों द्वारा भेजने वाले, कुछ मीठे-मीठे समाचार और स्व के स्नेह के पुरुषार्थ के समाचार देने वाले सर्व बच्चों को बापदादा सम्मुख देख याद-प्यार दे रहे हैं। साथ-साथ परवाने बन शमा के ऊपर जलने वाले अर्थात् हर कदम में बाप समान बनने वाले बच्चों को स्नेह सम्पन्न याद-प्यार और नमस्ते।

महारथी भाई-बहनों प्रति उच्चारे हुए अव्यक्त महावाक्य:-

सेवा के निमित्त बने हुए बच्चों की भी तो माला है ना। सभी विशेष रत्न निमित्त बने हुए हो। निमित्त बनने की विशेषता निमित्त बनाती है। ब्रह्मा बाप को आप सबके ऊपर एक बात का नाज़ है। कौन-सी बात का विशेष नाज़ है? सभी बच्चों ने एक दो में विचार मिलाते हुए आदि से युनिटी का जो रूप दिखाया है इस पर ब्रह्मा बाप को विशेष नाज़ है। युनिटी इस ब्राह्मण परिवार का फाउन्डेशन है इसलिए ब्रह्मा बाप को अव्यक्त वतन में रहते भी बच्चों पर नाज़ है। देखते तो हैं ना कारोबार।

लण्डन ग्रुप से:- सदा रूहानी गुलाब बन औरों को भी खुशबू देने वाले अविनाशी बगीचे के पुष्प हो ना। सभी रूहानी गुलाब हो। जिस रूहानी गुलाब को देख सारी विश्व आकर्षित होती है। एक-एक रूहानी गुलाब कितना वैल्युबुल है। अमूल्य है। जो अभी तक भी आप सबके जड़ चित्रों की भी वैल्यु है। एक-एक जड़ चित्र कितनी वैल्यु से लेते वा देते हैं। हैं तो साधारण पत्थर या चांदी या सोना लेकिन वैल्यु कितनी है। सोने की मूर्ति कितनी वैल्यु में देंगे। इतने वैल्युबुल कैसे बने! क्योंकि बाप का बनने से सदा ही श्रेष्ठ बन गये। इसी भाग्य के गीत सदा गाते रहो। वाह मेरा भाग्य और वाह भाग्य विधाता और वाह संगमयुग। वाह मीठा ड्रामा। सबमें वाह-वाह आता है ना। वाह-वाह के गीत गाते रहते हो ना! बापदादा को लण्डन निवासियों पर नाज़ है, सेवा के वृक्ष का बीज जो है वह लण्डन है। तो लण्डन निवासी भी बीजरूप हो गये। यू.के. वाले अर्थात् सदा ओ.के. रहने वाले, सदा पढ़ाई और सेवा दोनों का बैलेन्स रखने वाले। सदा हर कदम में स्वयं की उन्नति को अनुभव करने वाले। जब बाप के बने तो सदा बाप का साथ और बाप का हाथ है, हर बच्चे के ऊपर – ऐसे अनुभव करते हो ना। जिनके ऊपर बाप का हाथ है, वह सदा ही सेफ हैं। सदा सेफ रहने वाले हो ना। ओ.के. ग्रुप के पास माया तो नहीं आती है ना। माया भी सदा के लिए ओ.के., ओ.के. करके विदाई करके चली जाती है। यू.के. अर्थात् ओ.के. ग्रुप को संग भी तो बहुत श्रेष्ठ है ना। संग अच्छा, वायुमण्डल शक्तिशाली तो माया आ कैसे सकती। सदा ही सेफ होंगे। ओ.के. ग्रुप अर्थात् मायाजीत ग्रुप।

मॉरीशियस पाटी:- सदा अपने को श्रेष्ठ भाग्यवान समझते हो? भाग्य में क्या मिला? भगवान ही भाग्य में मिल गया! स्वयं भाग्य विधाता भगवान भाग्य में मिल गया, इससे बड़ा भाग्य और क्या हो सकता है? तो सदा ये खुशी रहती है कि विश्व में सबसे बड़े ते बड़े भाग्यवान हम आत्मायें हैं। हम नहीं, हम आत्मायें। आत्मायें कहेंगे तो कभी भी उल्टा नशा नहीं आयेगा। देही-अभिमानी बनने से श्रेष्ठ नशा – ईश्वरीय नशा रहेगा। भाग्यवान आत्मायें हैं, जिन्हों के भाग्य का अब भी गायन हो रहा है। ‘भागवत’ – आपके भाग्य का यादगार है। ऐसा अविनाशी भाग्य जो अब तक भी गायन है, इसी खुशी में सदा आगे बढ़ते रहो। कुमारियाँ तो निर्बन्धन, तन से भी निर्बन्धन, मन से भी निर्बन्धन। ऐसे निर्बन्धन ही उड़ती कला का अनुभव कर सकते हैं। अच्छा। ओम शान्ति।

वरदान:- सेवा का पार्ट बजाते पार्ट से न्यारे और बाप के प्यारे रहने वाले सहज योगी भव 
कई बच्चे कहते हैं योग कभी लगता है कभी नहीं लगता, इसका कारण है – न्यारे पन की कमी। न्यारे न होने के कारण प्यार का अनुभव नहीं होता और जहाँ प्यार नहीं वहाँ याद नहीं। जितना ज्यादा प्यार उतनी सहज याद, इसलिए संबंध के आधार पर पार्ट नहीं बजाओ, सेवा के संबंध से पार्ट बजाओ तो न्यारे रहेंगे। कमल पुष्प समान पुरानी दुनिया के वातावरण से न्यारे और बाप के प्यारे बनो तो सहजयोगी बन जायेंगे।
स्लोगन:- ज्ञानी वह है जो कारण शब्द को मर्ज कर हर बात का निवारण कर दे।
Font Resize