2 october ki murli

TODAY MURLI 2 OCTOBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 2 October 2020

02/10/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, this most elevated confluence age is the age of benevolence. Only in this age does transformation take place. This is the age when you change from the most degraded to the most elevated human beings.
Question: By thinking or speaking of which particular things can you never make any progress on this path of knowledge?
Answer: “If it’s in the drama, I’ll make effort! I’ll do it if the drama inspires me.” Those who think or speak in this way can never make progress. It is wrong to say this. You know that it’s also fixed in the drama for you to make effort now. You do have to make effort.
Song: This is the story of the flame and the storm.

Om shanti. Human beings of the iron age have composed this song, but they don’t understand the meaning of it. You know it. You are now the most elevated confluence-aged beings. Together with “confluence age” you also have to write “the most elevated”. Because of not remembering points of knowledge, you children forget to write such words. This is the main thing and only you understand the meaning of it. There is the most elevated month of charity. This is the most elevated confluence age. This confluence is also a festival. This is the most elevated festival. You know that you are now becoming the most elevated, the highest of all beings. Lakshmi and Narayan are called the highest of all, the wealthiest of all, number one. In the scriptures, it says that there was a great annihilation and that the number one Shri Krishna then came floating on a pipal leaf in the ocean. What would you say now? This Shri Krishna, whom you call “Shyam-Sundar”, is number one. It is shown that he came sucking his thumb. A baby remains in a womb. So, Shri Krishna, the highest of all beings, is the first one to emerge from the Ocean of Knowledge. Heaven is established by the Ocean of Knowledge. The number one most elevated being is Shri Krishna, and that One is the Ocean of Knowledge, not an ocean of water. Annihilation never takes place. When new children come, the Father has to repeat the old points. The golden age, the silver age, the copper age and the iron age – these four ages are known anyway; the fifth age is this most elevated confluence age. Human beings change in this age; they change from the most degraded to the most elevated. Shiv Baba is called the most elevated or highest One of all. He is the Supreme Soul, God. Then the highest human beings are Lakshmi and Narayan. Who made them that? Only you children know this. You children understand that it is at this time that we make effort to become like them. There is nothing difficult in this effort; it is most simple. Those who study are innocent, weak mothers and hunchbacks, with no education. It is explained so simply for them! Look, there used to be a sage in Ahmedabad who would say that he didn’t eat or drink anything. OK, so what if someone doesn’t eat or drink for his whole life? He still doesn’t attain anything by doing that. Even a tree receives nourishment. It receives fertilizer and water which make it grow in a natural way. The sage must have received some occult power. There are many who walk on water and fire. What benefit is there in doing that? By studying this easy Raj Yoga you experience benefit for birth after birth. From being unhappy, you are made happy for birth after birth. The Father says: Children, according to the drama, I am telling you deep things. For instance, Baba has explained to you how they have confused Shiva with Shankar. Shankar doesn’t even have a part to play in this world. Shiva, Brahma and Vishnu have parts to play. Brahma and Vishnu have an allround part. Shiv Baba only has a part at this time, and this is why He comes now and gives knowledge. He then goes back to the land of nirvana. He gives the children all His property and He then goes into the stage of retirement. To be in the stage of retirement means to make effort to go beyond sound through a guru. However, no one can return home yet, because everyone is vicious and corrupt; everyone takes birth through vice. Lakshmi and Narayan are viceless; they don’t take birth through sin. This is why they are called elevated. Kumaris too are viceless. This is why everyone bows to them. So, Baba has explained that Shankar doesn’t have a part to play here. However, Prajapita Brahma is definitely the Father of People, is he not? Shiv Baba is called the Father of souls. He is the eternal Father. You have to imbibe these deep aspects very well. Great philosophers receive great titles. Scholars receive the title of Shri Shri 108. They pass in the college at Benares and receive those titles. Baba sent Guptaji to Benares to explain to them that they had taken the Father’s title for themselves. The Father is called Shri Shri 108 Jagadguru. There is a rosary of 108. Eight jewels have been remembered. They passed with honours; that is why their rosary is turned. Then the 108 who are less elevated than them are worshipped. When people hold a sacrificial fire they make 1000 saligrams. Some make 10,000, some 50,000 and some even 100,000. They make them of clay and then hold a sacrificial fire. If a businessman is very prosperous, he would have 100,000 saligrams made. The Father has explained that the rosary is very long. There is even a rosary of 16,108. The Father sits here and explains these things to you children. All of you are serving Bharat with the Father. Since the Father is worshipped, even the children should be worshipped. People don’t know why Rudra is worshipped. All are the children of Shiv Baba. At this time, the world population is so large. All souls are Shiv Baba’s children, but not all are His helpers. The more you remember Him at this time, the more elevated you become; you become worthy of worship. No one else has the power to explain these things. This is why they say that no one knows the depths of God. The Father Himself comes and explains that He is called the Ocean of Knowledge. Therefore, He definitely does give knowledge. There is no question of inspiration. Does God explain through inspiration? You know that He has the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world. He tells this to you children. You do have faith in this, but, in spite of having faith, you forget the Father. Remembrance of the Father is the essence of this study. It does takes effort to attain the karmateet stage by having remembrance of the Father. It is in this remembrance that Maya causes obstacles. There are not that many obstacles in studying. They say of Shankar that when he opened his eye, destruction took place. It isn’t right to say this. The Father says: Neither do I inspire destruction nor does Shankar carry out destruction. That is wrong. Deities would not commit sin. Shiv Baba now sits here and explains these things. This body is the chariot of the soul. Each soul is riding in his own chariot. The Father says: I take this one’s chariot on loan. This is why My birth is said to be divine and unique. The cycle of 84 births is now in your intellects. You know that you will go home and then go to heaven. Baba explains everything very easily. You mustn’t have heartfailure. Some say: Baba, I am not educated. Nothing comes out of my mouth. However, it isn’t like that. The mouth definitely works. Even when you eat, your mouth works, does it not? It is impossible for no sound to emerge. Baba has explained everything very simply. Even when someone is observing silence, he can still signal upwards to remember that One. Only the one Bestower is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. As well as now, He is also the Bestower on the path of devotion. Then, in the stage of retirement, there is just peace. You children also reside in the land of peace. Your parts that are recorded in you continue to be played out. Our parts now are to make the world new. His name is very good: Heavenly God, the Father. The Father is the Creator of heaven; He does not create hell. Would anyone create an old world? A building is always built new. Shiv Baba creates the new world through Brahma. He has received that part. In the old world, all human beings continue to cause sorrow for one another. You know that you are the children of Shiv Baba. Then, as bodily beings, you are the adopted children of Prajapita Brahma. It is Shiv Baba, the Creator, who gives us knowledge, the knowledge of the beginning, the middle and the end of His creation. Your aim and objective is to become this. People incur so much expenditure creating marble idols. This is the Godly World University. The whole universe is being changed. The character of everyone is devilish: they continue to cause sorrow from the beginning, through the middle to the end. This is God’s University. There is only the one World University of God. It is God who opens it through which the whole world benefits. You children now understand the difference between right and wrong. No other human beings understand this. There is only the one righteous One. He is the One, the One who is called the Truth, who explains to you about right and wrong. Only the Father comes and makes everyone righteous. When you have become righteous you will go into liberation and then into liberation-in-life. You children also know the drama. You come down, numberwise, to play your parts from the beginning through the middle to the end. This play continues all the time and the drama continues to be shot. This is evernew. This drama never becomes old; all other plays, etc. perish. This drama is unlimited and imperishable. Everyone in this is an imperishable actor. Look how big the eternal play and stage are! The Father comes and makes the old world new. You will have visions of all of this. The closer you come, the happier you will feel and you will have visions. You will say that your parts have come to an end. The dramathen has to repeat. You will then play your parts anew, the parts that you played in the previous cycle. There cannot be the slightest change in this. Therefore, you children have to claim as high a status as possible. Make effort and don’t become confused. It is wrong to say that the drama will inspire you to do whatever you have to do. We do have to make effort. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and Good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Keep the essence of the study in your intellect and attain your karmateet stage by staying on the pilgrimage of remembrance. In order to become elevated and worthy of worship, become a complete helper of the Father.
  2. You have received the understanding from the true Father of what is right and what is wrong. Therefore, become righteous through that. Become liberated from a life of bondage and claim your inheritance of liberation and liberation-in-life.
Blessing: May you have an elevated reward and experience the ascending stage by remaining aware of the elevated attainments of the confluence age.
The speciality of meeting God and of receiving God’s knowledge is to have imperishable attainments. It isn’t that the confluence age is just an effort-making life and that the golden age is a life of the reward of that. The speciality of the confluence age is that you take one step and receive a thousand steps as the reward. So, it isn’t just effort but it is also an elevated reward. Always keep this form in front of you. By seeing the reward, you will easily experience the ascending stage. Sing the song “I have attained what I wanted to attain”, and you will be saved from choking or nodding off.
Slogan: The breath of Brahmins is courage with which even the most difficult task becomes easy.

*** Om Shanti ***

 

Invaluable elevated versions of Mateshwariji

Liberation and moksh.

Nowadays, people call liberation is moksh (eternal liberation). They believe that those who attain liberation become free from the cycle of birth and death. They believe that not coming into the cycle of birth and death is an elevated status. They believe that to be the reward. They believe liberation in life to be living a life in which you perform good acts. For instance, they believe that righteous souls (dharmatmas) are liberated in life. It is only a handful who understand about becoming liberated from karmic bondages. This is their own opinion. However, we have understood from God that until a human being has been liberated from his karmic bondages based on vices, he will not be able to become free from the sorrow of the beginning, through the middle to the end. To become free from this is also a stage. So, only when you first imbibe Godly knowledge can you reach that stage and it is God Himself who enables us to reach that stage, because He is the One who grants liberation and liberation-in-life. He comes at this one time to grant everyone liberation and liberation-in-life. God doesn’t come many times and you must not think that God comes as an incarnation.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 2 OCTOBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 2 October 2020

Murli Pdf for Print : – 

02-10-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – यह पुरूषोत्तम संगमयुग कल्याणकारी युग है, इसमें ही परिवर्तन होता है, तुम कनिष्ट से उत्तम पुरूष बनते हो”
प्रश्नः- इस ज्ञान मार्ग में कौन सी बात सोचने वा बोलने से कभी भी उन्नति नहीं हो सकती?
उत्तर:- ड्रामा में होगा तो पुरूषार्थ कर लेंगे। ड्रामा करायेगा तो कर लेंगे। यह सोचने वा बोलने वालों की उन्नति कभी नहीं हो सकती। यह कहना ही रांग है। तुम जानते हो अभी जो हम पुरुषार्थ कर रहे हैं, यह भी ड्रामा में नूँध है। पुरुषार्थ करना ही है।
गीत:- यह कहानी है दीवे और तूफान की……..

ओम् शान्ति। यह है कलियुगी मनुष्यों के गीत। परन्तु इनका अर्थ वह नहीं जानते। यह तुम जानते हो। तुम हो अभी पुरूषोत्तम संगमयुगी। संगमयुग के साथ पुरूषोत्तम भी लिखना चाहिए। बच्चों को ज्ञान की प्वाइंट्स याद न होने के कारण फिर ऐसे-ऐसे अक्षर लिखने भूल जाते हैं। यह मुख्य है, इनका अर्थ भी तुम ही समझ सकते हो। पुरूषोत्तम मास भी होता है। यह फिर है पुरूषोत्तम संगमयुग। यह संगम का भी एक त्योहार है। यह त्योहार सबसे ऊंच है। तुम जानते हो अभी हम पुरूषोत्तम बन रहे हैं। उत्तम ते उत्तम पुरुष। ऊंच ते ऊंच साहूकार से साहूकार नम्बरवन कहेंगे लक्ष्मी-नारायण को। शास्त्रों में दिखाते हैं – बड़ी प्रलय हुई। फिर नम्बरवन श्रीकृष्ण पीपल के पत्ते पर सागर में आया। अभी तुम क्या कहेंगे? नम्बरवन है यह श्रीकृष्ण, जिसको ही श्याम-सुन्दर कहते हैं। दिखाते हैं – अगूंठा चूसता हुआ आया। बच्चा तो गर्भ में ही रहता है। तो पहले-पहले ज्ञान सागर से निकला हुआ उत्तम ते उत्तम पुरूष श्रीकृष्ण है। ज्ञान सागर से स्वर्ग की स्थापना होती है। उनमें नम्बरवन पुरूषोत्तम यह श्रीकृष्ण है और यह है ज्ञान का सागर, पानी का नहीं। प्रलय भी होती नहीं। कई बच्चे नये-नये आते हैं तो बाप को फिर पुरानी प्वाइंट रिपीट करनी पड़ती हैं। सतयुग-त्रेता-द्वापर-कलियुग…… यह 4 युग तो हैं। पांचवा फिर है पुरूषोत्तम संगमयुग। इस युग में मनुष्य चेंज होते हैं। कनिष्ट से सर्वोत्तम बनते हैं। जैसे शिवबाबा को भी पुरूषोत्तम वा सर्वोत्तम कहते हैं ना। वह है ही परम आत्मा, परमात्मा। फिर पुरूषों में उत्तम हैं यह लक्ष्मी-नारायण। इन्हों को ऐसा किसने बनाया? यह तुम बच्चे ही जानते हो। बच्चों को भी समझ में आया है। इस समय हम पुरूषार्थ करते हैं ऐसा बनने के लिए। पुरूषार्थ कोई बड़ा नहीं है। मोस्ट सिम्पुल है। सीखने वाली भी हैं अबलायें कुब्जायें, जो कुछ भी पढ़ी-लिखी नहीं हैं। उन्हों के लिए कितना सहज समझाया जाता है। देखो अहमदाबाद में एक साधू था कहता था हम कुछ खाते-पीते नहीं हैं। अच्छा कोई सारी आयु खाता-पीता नहीं फिर क्या? प्राप्ति तो कुछ नहीं है ना। झाड़ को भी खाना तो मिलता है ना। खाद पानी आदि नेचुरल उनको मिलता है, जिससे झाड़ वृद्धि को पाता है। उसने भी कोई रिद्धि-सिद्धि पाई होगी। ऐसे बहुत हैं जो आग से, पानी से चले जाते हैं। इनसे भला फायदा क्या। तुम्हारा तो इस सहज राजयोग से जन्म-जन्मान्तर का फायदा है। तुमको जन्म-जन्मान्तर के लिए दु:खी से सुखी बनाते हैं। बाप कहते हैं – बच्चे, ड्रामा अनुसार हम तुमको गुह्य बातें सुनाता हूँ।

जैसे बाबा ने समझाया है शिव और शंकर को मिलाया क्यों है? शंकर का तो इस सृष्टि में पार्ट ही नहीं है। शिव का, ब्रह्मा का, विष्णु का पार्ट है। ब्रह्मा और विष्णु का आलराउन्ड पार्ट है। शिवबाबा का भी इस समय पार्ट है, जो आकर ज्ञान देते हैं। फिर निर्वाणधाम में चले जाते हैं। बच्चों को जायदाद देकर खुद वानप्रस्थ में चले जाते हैं। वानप्रस्थी बनना अर्थात् गुरू द्वारा वाणी से परे जाने का पुरूषार्थ करना। परन्तु वापिस तो कोई जा नहीं सकते क्योंकि विकारी भ्रष्टाचारी हैं। विकार से जन्म तो सबका होता है। यह लक्ष्मी-नारायण निर्विकारी हैं, उन्हों का विकार से जन्म नहीं होता है इसलिए श्रेष्ठाचारी कहलाये जाते हैं। कुमारियां भी निर्विकारी हैं – इसलिए उनके आगे माथा टेकते हैं। तो बाबा ने समझाया कि यहाँ शंकर का कोई पार्ट नहीं है, बाकी प्रजापिता ब्रह्मा तो जरूर प्रजा का पिता हुआ ना। शिवबाबा को तो आत्माओं का पिता कहेंगे। वह है अविनाशी पिता, यह गुह्य बातें अच्छी रीति धारण करनी हैं। जो बड़े-बड़े फिलॉसाफर होते हैं, उनको बहुत टाइटिल मिलते हैं। श्री श्री 108 का टाइटिल भी विद्वानों को मिलते हैं। बनारस के कॉलेज से पास कर टाइटिल ले आते हैं। बाबा ने गुप्ता जी को इसलिए बनारस भेजा था कि उन्हों को जाकर समझाओ कि बाप का भी टाइटिल अपने ऊपर रख बैठे हो। बाप को श्री श्री 108 जगतगुरू कहा जाता है। माला ही 108 की होती है। 8 रत्न गाये जाते हैं। वह पास विद् ऑनर होते हैं इसलिए उनको जपते हैं। फिर उनसे कम 108 की पूजा करते हैं। यज्ञ जब रचते हैं तो कोई 1000 सालिग्राम बनाते हैं, कोई 10 हज़ार, कोई 50 हज़ार, कोई लाख भी बनाते हैं। मिट्टी के बनाकर फिर यज्ञ रचते हैं। जैसा-जैसा सेठ अच्छे ते अच्छा, बड़ा सेठ होगा तो लाख बनवायेंगे। बाप ने समझाया है माला तो बड़ी है ना – 16108 की माला बनाते हैं। यह तुम बच्चों को बाप बैठ समझाते हैं। तुम सभी भारत की सेवा कर रहे हो बाप के साथ। बाप की पूजा होती है तो बच्चों की भी पूजा होनी चाहिए, यह नहीं जानते कि रूद्र पूजा क्यों होती है। बच्चे तो सब शिवबाबा के हैं। इस समय सृष्टि की कितनी आदमशुमारी है इसमें सब आत्मायें शिवबाबा के बच्चे ठहरे ना। परन्तु मददगार सब नहीं होते। इस समय तुम जितना याद करते हो उतना ऊंच बनते हो। पूजन लायक बनते हो। ऐसे और कोई की ताकत नहीं जो यह बात समझाये इसलिए कह देते ईश्वर का अन्त कोई नहीं जानते। बाप ही आकर समझाते हैं, बाप को ज्ञान का सागर कहा जाता है तो जरूर ज्ञान देंगे ना। प्रेरणा की तो बात होती नहीं। भगवान कोई प्रेरणा से समझाते हैं क्या। तुम जानते हो उनके पास सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान है। वह फिर तुम बच्चों को सुनाते हैं। यह तो निश्चय है – निश्चय होते हुए भी फिर भी बाप को भूल जाते हैं। बाप की याद, यह है पढ़ाई का तन्त। याद की यात्रा से कर्मातीत अवस्था को पाने में मेहनत लगती है, इसमें ही माया के विघ्न आते हैं। पढ़ाई में इतने विघ्न नहीं आते। अब शंकर के लिए कहते हैं, शंकर आंख खोलते हैं तो विनाश होता है, यह कहना भी ठीक नहीं है। बाप कहते हैं – न मैं विनाश कराता हूँ, न वह करते हैं, यह रांग है। देवतायें थोड़ेही पाप करेंगे। अब शिवबाबा बैठ यह बातें समझाते हैं। आत्मा का यह शरीर है रथ। हर एक आत्मा की अपने रथ पर सवारी है। बाप कहते हैं मैं इनका लोन लेता हूँ, इसलिए मेरा दिव्य अलौकिक जन्म कहा जाता है। अभी तुम्हारी बुद्धि में 84 का चक्र है। जानते हो अभी हम घर जाते हैं, फिर स्वर्ग में आयेंगे। बाबा बहुत सहज करके समझाते हैं, इसमें हार्टफेल नहीं होना है। कहते हैं बाबा हम पढ़े-लिखे नहीं हैं। मुख से कुछ निकलता नहीं। परन्तु ऐसा तो होता नहीं। मुख तो जरूर चलता ही है। खाना खाते हो मुख चलता है ना। वाणी न निकले यह तो हो नहीं सकता। बाबा ने बहुत सिम्पुल समझाया है। कोई मौन में रहते हैं तो भी ऊपर में इशारा देते हैं कि उनको याद करो। दु:ख हर्ता सुख कर्ता वह एक ही दाता है। भक्तिमार्ग में भी दाता है तो इस समय में भी दाता है फिर वानप्रस्थ में तो है ही शान्ति। बच्चे भी शान्तिधाम में रहते हैं। पार्ट नूँधा हुआ है, जो एक्ट में आता है। अभी हमारा पार्ट है – विश्व को नया बनाना। उनका नाम बड़ा अच्छा है – हेविनली गॉड फादर। बाप रचयिता है स्वर्ग का। बाप नर्क थोड़ेही रचेंगे। पुरानी दुनिया कोई रचते हैं क्या। मकान हमेशा नया बनाया जाता है। शिवबाबा नई दुनिया रचते हैं ब्रह्मा द्वारा। इनको पार्ट मिला हुआ है – यहाँ पुरानी दुनिया में जो भी मनुष्य हैं, सब एक-दो को दु:ख देते रहते हैं।

तुम जानते हो हम हैं शिवबाबा की सन्तान। फिर शरीरधारी प्रजापिता ब्रह्मा के बच्चे हो गये एडाप्टेड। हमको ज्ञान सुनाने वाला है शिवबाबा रचयिता। जो अपनी रचना के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान सुनाते हैं। तुम्हारी एम ऑबजेक्ट ही है यह बनना। मनुष्य देखो कितना खर्चा कर मार्बल आदि की मूर्तियां बनाते हैं। यह है ईश्वरीय विश्व विद्यालय, वर्ल्ड युनिवर्सिटी। सारी युनिवर्स को चेंज किया जाता है। उन्हों के जो भी कैरेक्टर्स हैं सब आसुरी। आदि-मध्य-अन्त दु:ख देने वाले हैं। यह है ईश्वरीय युनिवर्सिटी। ईश्वरीय विश्व विद्यालय एक ही होता है, जो ईश्वर आकर खोलते हैं, जिससे सारी विश्व का कल्याण हो जाता है। तुम बच्चों को अब राइट और रांग की समझ मिलती है और कोई मनुष्य नहीं जो समझता हो। राइट रांग को समझाने वाला एक ही राइटियस होता है, जिसको ट्रूथ कहते हैं। बाप ही आकर हर एक को राइटियस बनाते हैं। राइटियस बनेंगे तो फिर मुक्ति में जाकर जीवनमुक्ति में आयेंगे। ड्रामा को भी तुम बच्चे जानते हो। आदि से लेकर अन्त तक पार्ट बजाने नम्बरवार आते हो। यह खेल चलता ही रहता है। ड्रामा शूट होता जाता है। यह एवर न्यु है। यह ड्रामा कभी पुराना नहीं होता है, और सब नाटक आदि विनाश हो जाते हैं। यह बेहद का अविनाशी ड्रामा है। इनमें सब अविनाशी पार्टधारी हैं। अविनाशी खेल वा माण्डवा देखो कितना बड़ा है। बाप आकर पुरानी सृष्टि को फिर नया बनाते हैं। वह सब तुमको साक्षात्कार होगा। जितना नज़दीक आयेंगे फिर तुमको खुशी होगी। साक्षात्कार करेंगे। कहेंगे अब पार्ट पूरा हुआ। ड्रामा को फिर रिपीट करना है। फिर नयेसिर पार्ट बजायेंगे, जो कल्प पहले बजाया है। इसमें ज़रा भी फ़र्क नहीं हो सकता है, इसलिए जितना हो सके तुम बच्चों को ऊंच पद पाना चाहिए। पुरूषार्थ करना है, मूंझना नहीं है। ड्रामा को जो कराना होगा वो करायेगा – यह कहना भी रांग है। हमको तो पुरूषार्थ करना ही है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) पढ़ाई का तन्त (सार) बुद्धि में रख याद की यात्रा से कर्मातीत अवस्था को पाना है। ऊंच, पूज्यनीय बनने के लिए बाप का पूरा-पूरा मददगार बनना है।

2) सत्य बाप द्वारा राइट-रांग की जो समझ मिली है, उससे राइटियस बन जीवन बंध से छूटना है। मुक्ति और जीवनमुक्ति का वर्सा लेना है।

वरदान:- संगमयुग की सर्व प्राप्तियों को स्मृति में रख चढ़ती कला का अनुभव करने वाले श्रेष्ठ प्रारब्धी भव
परमात्म मिलन वा परमात्म ज्ञान की विशेषता है – अविनाशी प्राप्तियां होना। ऐसे नहीं कि संगमयुग पुरूषार्थी जीवन है और सतयुगी प्रारब्धी जीवन है। संगमयुग की विशेषता है एक कदम उठाओ और हजार कदम प्रारब्ध में पाओ। तो सिर्फ पुरूषार्थी नहीं लेकिन श्रेष्ठ प्रारब्धी हैं – इस स्वरूप को सदा सामने रखो। प्रारब्ध को देखकर सहज ही चढ़ती कला का अनुभव करेंगे। “पाना था सो पा लिया” – यह गीत गाओ तो घुटके और झुटके खाने से बच जायेंगे।
स्लोगन:- ब्राह्मणों का श्वांस हिम्मत है, जिससे कठिन से कठिन कार्य भी आसान हो जाता है।

 

मातेश्वरी जी के अनमोल महावाक्य

“मुक्ति और मोक्ष”

आजकल मनुष्य मुक्ति को ही मोक्ष कहते हैं, वो ऐसे समझते हैं जो मुक्ति पाते हैं वो जन्म मरण से छूट जाते हैं। वो लोग तो जन्म मरण में न आना इसको ही ऊंच पद समझते हैं, वही प्रालब्ध मानते हैं। जीवन-मुक्ति फिर उसको समझते हैं जो जीवन में रहकर अच्छा कर्म करते हैं, जैसे धर्मात्मा लोग हैं, उन्हों को जीवनमुक्त समझते हैं। बाकी कर्मबन्धन से मुक्त हो जाना वो तो कोटों में से कोई विरला ही समझते हैं, अब यह है उन्हों की अपनी मत। लेकिन हम तो परमात्मा द्वारा जान चुके हैं कि जब तक मनुष्य पहले विकारी कर्मबन्धन से मुक्त नहीं हुआ है तब तक आदि-मध्य-अन्त दु:ख से छूट नहीं सकेंगे, तो इससे छूटना यह भी एक स्टेज है। तो भी पहले जब ईश्वरीय नॉलेज को धारण करे तब ही उस स्टेज पर पहुँच सके और उस स्टेज पर पहुँचाने वाला स्वयं परमात्मा चाहिए क्योंकि मुक्ति जीवनमुक्ति देते वह हैं, वो भी एक ही समय आए सबको मुक्ति-जीवनमुक्ति दे देता है। बाकी परमात्मा कोई अनेक बार नहीं आते और न कि ऐसा समझो कि परमात्मा ही सब अवतार धारण करते हैं। ओम् शान्ति।

TODAY MURLI 2 OCTOBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 2 October 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 1 October 2019:- Click Here

02/10/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, all of you are united under one direction. You consider yourselves to be souls and you remember the one Father, and so all the evil spirits run away.
Question: What is the main basis of becoming multimillion times fortunate?
Answer: Only those who imbibe each and every point that Baba says become multimillion times fortunate. Judge what Baba says and what those of Ravan’s community say. To keep in your intellect the knowledge that the Father gives and be a spinner of the discus of self-realisation is to become multimillion times fortunate. It is only by imbibing this knowledge that you become virtuous.

Om shanti. In English, you would call Him the “Spiritual Father. When you go to the golden age, there won’t be English or other languages. You know that there will be your kingdom in the golden age, and whatever our language is, only that will be used there. Later, that language will continue to change. Now there are innumerable languages. As are the kings, so the languages that are used. All of you children now know that all the children at the centres are united under one direction. You have to consider yourselves to be souls and remember the one Father so that all the evil spirits go away. The Father is the Purifier. The five evil spirits exist in everyone. The evil spirits only exist in souls; these evil spirits, that is, the vices, are given the names – body consciousness, lust, anger, etc. It isn’t that God is omnipresent. If anyone ever says that God is omnipresent, tell him: Souls and the five vices in those souls are omnipresent. It isn’t that God is present in each one. How could the five evil spirits exist in God? By imbibing each and every point very well, you become multimillion times fortunate. Now judge what people of the world who belong to Ravan’s community say and what the Father says. There is a soul in every body and the five vices exist in those souls. The five vices, that is, the evil spirits, are not in the bodies; they exist in the souls. These five evil spirits do not exist in the golden age; the very name is the deity world. This is the devilish world. Demons are called devils. There is the difference of day and night. You are now changing. There, you don’t have any vices or defects; you are full of all virtues; you become sixteen celestial degrees full. You were that at the beginning and then you came down. You now know how this cycle of 84 births rotates. We souls now have a vision of ourselves, that is, we now have the knowledge of this cycle. While walking, sitting and moving around, you have to keep this knowledge in your intellects. The Father is teaching you this knowledge. The Father only comes in Bharat and gives this spiritual knowledge. People speak of their Bharat. In fact, to call it Hindustan is wrong. You know that when Bharat was heaven, it was just our kingdom and that there were no other religions at that time. That was the new world. People speak of New Delhi. Originally, Delhi was not called Delhi, it was called Paristhan. Now they call it New Delhi and Old Delhi. Then, there won’t be either Old Delhi or New Delhi; it will be called Paristhan. Delhi is called the capital. It will be the kingdom of Lakshmi and Narayan. There won’t be anything except our kingdom there. There is no kingdom now, and this is why you say: Bharat is our land. There are no kings. All the knowledge continues to spin in the intellects of you children. Truly, there used to be the kingdom of deities in this world; it was not the kingdom of anyone else. They lived by the banks of the River Jamuna and it was called Paristhan. The capital of the deities has always been Delhi and so everyone now is attracted by it. It is also the largest city and it is central. You sweetest children know that you definitely committed sins and that you have become sinful souls. In the golden age, the souls there are pure and charitable. The Father alone comes and makes you pure and you also celebrate His birthday (Shiv Jayanti). The word “jayanti” applies to everyone. This is why they call that Shiv Ratri (the Night of Shiva). No one, apart from you, can understand the meaning of “the night”. Even good scholars etc. do not know what Shiv Ratri is and so what would they celebrate? The Father has explained what “the night” means. There is the play of happiness and sorrow in the cycle of 5000 years. Happiness is called the day and sorrow is called the night. So, there is a confluence between the night and the day. Half the cycle is light and the other half is darkness. On the path of devotion, everything takes a long time. Here, it is a matter of a second. This is completely easy yoga. You first have to go to the land of liberation. Although you children remember how long you have stayed in liberation-in-life and in bondage-in-life, you repeatedly forget it. The Father explains: The word “yoga” is right. However, theirs is physical yoga. This is the yoga of souls with the Supreme Soul. Sannyasis teach many types of hatha yoga etc. and so people become confused. He is the Father and also the Teacher of you children and so you have to have yoga with Him. You have to study with the Teacher. When a child takes birth, he first has yoga with his father and when he is five years old he has yoga with his teacher and then, in his age of retirement, he has to have yoga with his guru. Three main ones are remembered. All of those are separate. Here, the Father only comes once and becomes the Father and also the Teacher. He is wonderful. You should definitely remember such a Father. For birth after birth you have been remembering the three separately. In the golden age too, you have yoga with your father and then with a teacher. They study there too but there is no need for a guru there because all are in salvation. What difficulty do you have in remembering all of these things? This is absolutely easy. This is called easy yoga. However, this is uncommon. The Father says: I take this body on loan temporarily and even that is for such a short time. People go into the stage of retirement when they become sixty years old. It is said: When you reach the age of sixty, you have to take a stick. At this time, all have a stick. Everyone will go into the stage of retirement, to the land of nirvana. That is the sweet home, the sweetest home. It is for that that you have done so much devotion. You have now been around the cycle. People don’t know anything but have just told lies in saying that the cycle is hundreds of thousands of years. If it were a question of hundreds and thousands of years, you couldn’t receive rest. It would be very difficult to get rest. You receive rest. That is called the home of silence, the incorporeal world. This is the physical sweet homeThat is the incorporeal sweet home. A soul is an absolutely tiny rocket and nothing is faster than that; it is the fastest of all. A soul leaves his body in a second and flies. The next body is ready for him. According to the drama, he definitely has to go at the right time. The drama is so accurate. You know that there is no inaccuracy in it. According to the drama, the Father too comes exactly at His own accurate time. There cannot be the difference of even a second. How can you tell when the Father, God, is in this one? It is when He gives you children knowledge and sits here and explains to you. People celebrate the Night of Shiva. You do not know when or how I, Shiva, come here. People celebrate the night of Shiva and the night of Krishna, but they do not celebrate the night of Rama, because there is a difference. Together with the night of Shiva, they also celebrate the night of Krishna, but they do not know anything. Here, it is the devilish kingdom of Ravan. These matters have to be understood. This one is Baba. An old man would be called Baba. A young child would not be called Baba. Some children are lovingly called Baba. So, they have also called Krishna, Baba, with love. He would be called Baba when he grows older and has children. Krishna was a prince, so where did his children come from? The Father says: I enter the body of an old man. This is also mentioned in the scriptures, but not all of the things in the scriptures are accurate. Some things are fine. The lifespan of Brahma would be called the lifespan of Prajapita Brahma. That would definitely be at this time. The lifespan of Brahma would end in the land of death. This is not the land of immortality. This is called the most auspicious confluence age. This cannot be in the intellect of anyone except you children. The Father sits here and explains: Sweetest children, you do not know your births. I tell you how you take 84 births, and so you now know about it. Each age is 1250 years and you take a certain number of births in each age. There is an account of 84 births. There cannot be an account of 8.4 million births. This is called the cycle of 84 births. No one would remember anything of 8.4 million births. Here, there is such limitless sorrow. See how children continue to take birth and cause so much sorrow. This is called extreme hell. It is an absolutely dirty world. You children know that we are now making preparations to go the new world. If our sins are cut away, we will become pure and charitable souls. You mustn’t commit any sin now. To use the sword of lust on one another is to cause sorrow from the beginning through the middle to the end. This kingdom of Ravan is now to end. It is now the end of the iron age. This is the great Mahabharat War, the final war. Then, there won’t be any more wars etc. There, they won’t create any sacrificial fires etc. When people create sacrificial fires, they have a fire into which offerings are put. You children sacrifice all your old materials. The Father has now explained: This is the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. Shiva is called Rudra. They speak of the rosary of Rudra. Those on the path of isolation do not know any of the systems and customs of the family path. They simply renounce their homes and families and go away into the forests. The very name is renunciation. Renunciation of what? Of the home and family. They leave empty handed. First of all, their gurus test them a lot and make them do all the work. Earlier, they would simply accept flour as alms; they wouldn’t accept cooked food. They had to live in the forests and they would only have root vegetables and fruit there. It is remembered that sannyasis would eat that when they were satopradhan. Now, don’t even ask what they continue to do! This is called the vicious world, whereas that is the viceless world. So, you should understand that you are vicious (those indulging in vice). The Father says: The golden age is called Shivalaya, the viceless world. Here, all are impure human beings and this is why, instead of calling themselves deities, they call themselves Hindus. The Father continues to explain all of these things to you. Originally, you are children of the unlimited Father. He gives you the inheritance for 21 births. So, the Father explains to you sweetest children: You have the sins of birth after birth on your heads. You call out to Me in order to be liberated from those sins. Sages and holy men all call out: O Purifier! They don’t understand the meaning of anything, but simply continue to sing that and clap their hands. If anyone were to ask them how to have yoga with God, or how to meet Him, they would say that He is omnipresent. Is this the path that they show others? They say that God can be found by studying the Vedas and scriptures. However, the Father says: I come every 5000 years according to the dramaplanNo one, apart from the Father, knows the secrets of this drama. It cannot be a drama of hundreds of thousands of years. The Father now explains to you: This is a matter of 5000 years. Baba also told you in the previous cycle: Manmanabhav! This is the great mantra. This is the mantra with which you conquer Maya. Only the Father sits and explains the meaning of it to you. No one else can explain its meaning. It is also remembered: The Bestower of Salvation for All is One. Neither can that be a human being, nor can it be applied to the deities. There, there is nothing but happiness. No one performs devotion there. Devotion is performed in order to meet God. In the golden age, there is no devotion because they will have received their inheritance for 21 births. This is why it is remembered: Everyone remembers God at the time of sorrow. Here, there is limitless sorrow. They repeatedly say: God, have mercy! This iron-aged, sorrowful world does not remain all the time. The golden and silver ages have become the past and they will exist again. No one can remember anything of hundreds of thousands of years. The Father now gives you all the knowledge. He gives you His own introduction and also explains to you the secrets of the beginning, middle and end of creation. It is a matter of 5000 years. You children are now aware of this. You are now in a foreign kingdom. You used to have your own kingdom. Here, people claim their kingdom by battling with weapons and with violence. You children are establishing your kingdom with the power of yoga. You need a satopradhan world. The old world will end and become the new world. This is called the iron-aged old world. The golden age is the new world. No one knows this. Sannyasis say that all of this is your imagination. They say that it is the golden age here and also the iron age here. The Father now sits here and explains: There is not a single human being who knows the Father. If any of them were to know Him, they would give His introduction. No one understands what the golden and silver ages are. The Father continues to explain to you children very well. The Father Himself knows everything. He is Janijananhar, that is, He is knowledge-full. He is the Seed of the human world tree. He is the Ocean of Knowledge and the Ocean of Happiness. It is from Him that we are to receive the inheritance. The Father makes you equal to Himself in knowledge. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. This is the time to become liberated from sins. Therefore, do not commit any sins now. Sacrifice all the old materials into this sacrificial fire of Rudra.
  2. It is now your stage of retirement. Therefore, along with remembering the Father and the Teacher, remember the Satguru as well. In order to go to the sweet home, make the soul satopradhan (pure).
Blessing: May you be a master creator and make the Father your Teacher instead of making time your teacher.
Some children have enthusiasm for service, but they do not pay attention to having an attitude of disinterest; they are careless about this. “It is ok, it happens, it will happen, it will be fine when the time comes”. To think in this way means to make time your teacher. Some children reassure the Father: Don’t worry, everything will be fine. When the time comes, we will do it; we will move forward. However, you are master creators and time is your creation. It does not seem right for the creation to become a teacher of the creator.
Slogan: The return of the Father’s sustenance is to be co-operative in the transformation of oneself and everyone else.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 2 OCTOBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 2 October 2019

To Read Murli 1 October 2019:- Click Here
02-10-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम सबकी आपस में एक मत है, तुम अपने को आत्मा समझ एक बाप को याद करते हो तो सब भूत भाग जाते हैं”
प्रश्नः- पद्मापद्म भाग्यशाली बनने का मुख्य आधार क्या है?
उत्तर:- जो बाबा सुनाते हैं, उस एक-एक बात को धारण करने वाले ही पद्मापद्म भाग्यशाली बनते हैं। जज करो बाबा क्या कहते हैं और रावण सम्प्रदाय वाले क्या कहते हैं! बाप जो नॉलेज देते हैं उसे बुद्धि में रखना, स्वदर्शन चक्रधारी बनना ही पद्मापद्म भाग्यशाली बनना है। इस नॉलेज से ही तुम गुणवान बन जाते हो।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप, अंग्रेजी में कहा जाता है स्प्रीचुअल फादर। सतयुग में जब तुम चलेंगे तो वहाँ अंग्रेजी आदि दूसरी कोई भाषा तो होगी नहीं। तुम जानते हो सतयुग में हमारा राज्य होता है, उसमें हमारी जो भाषा होगी वही चलेगी। फिर बाद में वह भाषा बदलती जाती है। अभी तो अनेकानेक भाषायें हैं। जैसा-जैसा राजा वैसी-वैसी उनकी भाषा चलती है। अब यह तो सब बच्चे जानते हैं, सब सेन्टर्स पर भी जो बच्चे हैं उनकी है एक मत। अपने को आत्मा समझना है और एक बाप को याद करना है ताकि भूत सब भाग जाएं। बाप है पतित-पावन। 5 भूतों की तो सबमें प्रवेशता है। आत्मा में ही भूतों की प्रवेशता होती है फिर इन भूतों अथवा विकारों का नाम भी लगाया जाता है देह-अभिमान, काम, क्रोध आदि। ऐसे नहीं कि सर्वव्यापी कोई ईश्वर है। कभी भी कोई कहे कि ईश्वर सर्वव्यापी है तो कहो सर्वव्यापी आत्मायें हैं और इन आत्माओं में 5 विकार सर्वव्यापी हैं। बाकी ऐसे नहीं कि परमात्मा सर्व में विराजमान है। परमात्मा में फिर 5 भूतों की प्रवेशता कैसे होगी! एक-एक बात को अच्छी रीति धारण करने से तुम पद्मापद्म भाग्यशाली बनते हो। दुनिया वाले रावण सम्प्रदाय क्या कहते हैं और बाप क्या कहते है, अब जज करो। हरेक के शरीर में आत्मा है। उस आत्मा में 5 विकार प्रवेश हैं। शरीर में नहीं, आत्मा में 5 विकार अथवा भूत प्रवेश होते हैं। सतयुग में यह 5 भूत नहीं हैं। नाम ही है डीटी वर्ल्ड। यह है डेविल वर्ल्ड। डेविल कहा जाता है असुर को। कितना दिन और रात का फ़र्क है। अभी तुम चेन्ज होते हो। वहाँ तुम्हारे में कोई भी विकार, कोई अवगुण नहीं रहता। तुम्हारे में सम्पूर्ण गुण होते हैं। तुम 16 कला सम्पूर्ण बनते हो। पहले थे फिर नीचे उतरते हो। इस चक्र का अभी मालूम पड़ा है। 84 का चक्र कैसे फिरता है। हम आत्मा को स्व का दर्शन हुआ है अर्थात् इस चक्र का नॉलेज हुआ है। उठते, बैठते, चलते तुमको यह नॉलेज बुद्धि में रखना है। बाप नॉलेज पढ़ाते हैं। यह रूहानी नॉलेज बाप भारत में ही आकर देते हैं। कहते हैं ना – हमारा भारत। वास्तव में हिन्दुस्तान कहना तो रांग है। तुम जानते हो भारत जब स्वर्ग था तो सिर्फ हमारा ही राज्य था और कोई धर्म नहीं था। न्यु वर्ल्ड थी। नई देहली कहते हैं ना। देहली का नाम असल देहली नहीं था, परिस्तान कहते थे। अभी तो नई देहली और पुरानी देहली कहते हैं फिर न पुरानी, न नई देहली होगी। परिस्तान कहा जायेगा। दिल्ली को कैपीटल कहते हैं। इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य होगा, और कुछ भी नहीं होगा, हमारा ही राज्य होगा। अभी तो राज्य नहीं है इसलिए सिर्फ कहते हैं हमारा भारत देश है। राजायें तो हैं नहीं। तुम बच्चों की बुद्धि में सारा ज्ञान चक्र लगाता है। बरोबर पहले-पहले इस विश्व में देवी-देवताओं का राज्य था और कोई राज्य नहीं था। जमुना का किनारा था, उसको परिस्तान कहा जाता था। देवताओं की कैपीटल देहली ही रही है, तो सभी को कशिश होती है। सबसे बड़ी भी है। एकदम सेन्टर (बीच) है।

मीठे-मीठे बच्चे जानते हैं पाप तो जरूर हुए हैं, पाप आत्मा बन गये हैं। सतयुग में होते हैं पुण्य आत्मायें। बाप ही आकर पावन बनाते हैं जिसकी तुम शिव जयन्ती भी मनाते हो। अब जयन्ती अक्षर तो सबसे लगता है इस-लिए इनको फिर शिव रात्रि कहते हैं। रात्रि का अर्थ तो तुम्हारे सिवाए और कोई समझ न सकें। अच्छे-अच्छे विद्वान आदि कोई भी नहीं जानते कि शिवरात्रि क्या है तो मनावें क्या! बाप ने समझाया है रात्रि का अर्थ क्या है? यह जो 5 हज़ार वर्ष का चक्र है उसमें सुख और दु:ख का खेल है, सुख को कहा जाता है दिन, दु:ख को कहा जाता है रात। तो दिन और रात के बीच में आता है संगम। आधाकल्प है सोझरा, आधाकल्प है अन्धियारा। भक्ति में तो बहुत तीक-तीक चलती है। यहाँ है सेकण्ड की बात। बिल्कुल इज़ी है, सहज योग। तुमको पहले जाना है मुक्तिधाम। फिर तुम जीवनमुक्ति और जीवनबन्ध में कितना समय रहे हो, यह तो तुम बच्चों को याद है फिर भी घड़ी-घड़ी भूल जाते हो। बाप समझाते हैं योग अक्षर है ठीक परन्तु उन्हों का है जिस्मानी योग। यह है आत्माओं का परमात्मा के साथ योग। सन्यासी लोग अनेक प्रकार के हठयोग आदि सिखाते हैं तो मनुष्य मूँझते हैं। तुम बच्चों का बाप भी है तो टीचर भी है, तो उनसे योग लगाना पड़े ना। टीचर से पढ़ना होता है। बच्चा जन्म लेता है तो पहले बाप से योग होता है फिर 5 वर्ष के बाद टीचर से योग लगाना पड़ता है फिर वानप्रस्थ अवस्था में गुरू से योग लगाना पड़ता है। तीन मुख्य याद रहते हैं। वह तो अलग-अलग होते है। यहाँ यह एक ही बार बाप आकर बाप भी बनते हैं, टीचर भी बनते हैं। वन्डरफुल है ना। ऐसे बाप को तो जरूर याद करना चाहिए। जन्म-जन्मान्तर तीन को अलग-अलग याद करते आये हो। सतयुग में भी बाप से योग होता है फिर टीचर से होता है। पढ़ने तो जाते हैं ना। बाकी गुरू की वहाँ दरकार नहीं रहती क्योंकि सब सद्गति में हैं। यह सब बातें याद करने में क्या तकल़ीफ है! बिल्कुल सहज है। इनको कहा जाता है सहज योग। परन्तु यह है अनकॉमन। बाप कहते हैं मैं यह टैप्रेरी लोन लेता हूँ, सो भी कितना थोड़ा समय लेता हूँ। 60 वर्ष में वानप्रस्थ अवस्था होती है। कहते हैं साठ लगी लाठ। इस समय सबको लाठी लगी हुई है। सब वानप्रस्थ, निर्वाणधाम में जायेंगे। वह है स्वीट होम, स्वीटेस्ट होम। उनके लिए ही कितनी अथाह भक्ति की है। अभी चक्र फिरकर आये हो। मनुष्यों को यह कुछ भी पता नहीं, ऐसे ही गपोड़ा लगा दिया है कि लाखों वर्ष का चक्र है। लाखों वर्ष की बात हो तो फिर रेस्ट मिल न सके। रेस्ट मिलना ही मुश्किल हो जाए। तुमको रेस्ट मिलती है, उसको कहा जाता है साइलेन्स होम, इनकारपोरियल वर्ल्ड। यह है स्थूल स्वीट होम। वह है मूल स्वीट होम। आत्मा बिल्कुल छोटा रॉकेट है, इनसे तीखा भागने वाला कोई होता नहीं। यह तो सबसे तीखा है। एक सेकण्ड में शरीर छूटा और यह भागा, दूसरा शरीर तो तैयार रहता है। ड्रामा अनु-सार पूरे टाइम पर उनको जाना ही है। ड्रामा कितना एक्यूरेट है। इनमें कोई इनएक्यूरेसी है नहीं। यह तुम जानते हो। बाप भी ड्रामा अनुसार बिल्कुल एक्यूरेट टाइम पर आते हैं। एक सेकण्ड का भी फर्क नहीं पड़ सकता है। मालूम कैसे पड़ता है कि इनमें बाप भगवान है। जब नॉलेज देते हैं, बच्चों को बैठ समझाते हैं। शिवरात्रि भी मनाते हैं ना। मैं शिव कब कैसे आता हूँ, वह तुमको तो पता नहीं है। शिवरात्रि, कृष्णरात्रि मनाते हैं। राम की नहीं मनाते क्योंकि फर्क पड़ गया ना। शिवरात्रि के साथ कृष्ण की भी रात्रि मना लेते हैं। परन्तु जानते कुछ भी नहीं। यहाँ है ही आसुरी रावण राज्य। यह समझने की बातें हैं। यह तो है बाबा, बुढ़े को बाबा कहेंगे। छोटे बच्चे को बाबा थोड़ेही कहेंगे। कोई-कोई लव से भी बच्चे को बाबा कह देते हैं। तो उन्हों ने भी कृष्ण को लव से कह दिया है। बाबा तो तब कहा जाता है जब बड़े हो और फिर बच्चे पैदा करते हो। कृष्ण खुद ही प्रिन्स है, उनको बच्चे कहाँ से आये। बाप कहते ही हैं मै बुजुर्ग के तन में आता हूँ। शास्त्रों में भी है परन्तु शास्त्रों की सब बातें एक्यूरेट नहीं होती, कोई-कोई बात ठीक है। ब्रह्मा की आयु माना प्रजापिता ब्रह्मा की आयु कहेंगे। वह तो जरूर इस समय होगा। ब्रह्मा की आयु मृत्युलोक में खत्म होगी। यह कोई अमरलोक नहीं है। इनको कहा जाता है पुरूषोत्तम संगमयुग। यह सिवाए तुम बच्चों के और कोई की बुद्धि में नहीं हो सकता।

बाप बैठ बताते हैं – मीठे-मीठे बच्चों, तुम अपने जन्मों को नहीं जानते हो हम बतलाते हैं कि तुम 84 जन्म लेते हो। कैसे? तो भी तुमको पता पड़ गया है। हरेक युग की आयु 1250 वर्ष है और इतने-इतने जन्म लिए हैं। 84 जन्मों का हिसाब है ना। 84 लाख का तो हिसाब हो न सके। इनको कहा जाता है 84 का पा, 84 लाख की तो बात ही याद न आये। यहाँ कितने अपरमअपार दु:ख हैं। कैसे दु:ख देने वाले बच्चे पैदा होते रहते हैं। इसको कहा जाता है घोर नर्क, बिल्कुल छी-छी दुनिया है। तुम बच्चे जानते हो अभी हम नई दुनिया में जाने के लिए तैयारी कर रहे हैं। पाप कट जाएं तो हम पुण्यात्मा बन जायें। अभी कोई पाप नहीं करना है। एक-दो पर काम कटारी चलाना – यह आदि-मध्य-अन्त दु:ख देना है। अभी यह रावण राज्य पूरा होता है। अभी है कलियुग का अन्त। यह महाभारी लड़ाई है अन्तिम। फिर कोई लड़ाई आदि होगी ही नहीं। वहाँ कोई भी यज्ञ रचे नहीं जाते। जब यज्ञ रचते हैं तो उसमें हवन करते हैं। बच्चे अपनी पुरानी सामग्री सब स्वाहा कर देते हैं। अब बाप ने समझाया है यह है रूद्र ज्ञान यज्ञ। रूद्र शिव को कहा जाता है। रूद्र माला कहते हैं ना। निवृत्तिमार्ग वालों को प्रवृत्ति मार्ग की रसम-रिवाज़ का कुछ भी पता नहीं है। वह तो घरबार छोड़ जंगल में चले जाते हैं। नाम ही पड़ा है सन्यास। किसका सन्यास? घरबार का। खाली हाथ निकलते हैं। पहले तो गुरू लोग बहुत परीक्षा लेते हैं, काम कराते हैं। पहले भिक्षा में सिर्फ आटा लेते थे, रसोई नहीं लेते थे। उन्हों को जंगल में ही रहना है, वहाँ कंद-मूल-फल मिलते हैं। यह भी गायन है, जब सतोप्रधान सन्यासी होते हैं तब यह खाते हैं। अभी तो बात मत पूछो, क्या-क्या करते रहते हैं। इसका नाम ही है विशश वर्ल्ड। वह है वाइस-लेस वर्ल्ड। तो अपने को विशश समझना चाहिए ना। बाप कहते हैं सतयुग को कहा जाता है शिवालय, वाइ-सलेस वर्ल्ड। यहाँ तो सब हैं पतित मनुष्य इसलिए देवी-देवता के बदले नाम ही हिन्दू रख दिया है। बाप तो सब बातें समझाते रहते हैं। तुम असुल में हो ही बेहद बाप के बच्चे। वह तो तुम्हें 21 जन्मों का वर्सा देते हैं। तो बाप मीठे-मीठे बच्चों को समझाते हैं – जन्म-जन्मान्तर के पाप तुम्हारे सिर पर हैं। पापों से मुक्त होने के लिए ही तुम बुलाते हो। साधू-सन्त आदि सब पुकारते हैं – हे पतित-पावन….. अर्थ कुछ नहीं समझते, ऐसे ही गाते रहते हैं, ताली बजाते रहते हैं। उनसे कोई पूछे – परमात्मा से योग कैसे लगावें, उनसे कैसे मिलें तो कह देंगे वह तो सर्वव्यापी है। क्या यही रास्ता बताते हैं! कह देते वेद-शास्त्र पढ़ने से भगवान मिलेगा। परन्तु बाप कहते हैं – मैं हर 5 हजार वर्ष के बाद ड्रामा के प्लैन अनुसार आता हूँ। यह ड्रामा का राज़ सिवाए बाप के और कोई नहीं जानते। लाखों वर्ष का ड्रामा तो हो ही नहीं सकता। अब बाप समझाते हैं यह 5 हज़ार वर्ष की बात है। कल्प पहले भी बाबा ने कहा था कि मनमनाभव। यह है महामंत्र। माया पर जीत पाने का मंत्र है। बाप ही बैठ अर्थ समझाते हैं। दूसरा कोई अर्थ नहीं समझाते। गाया भी जाता है ना सर्व का सद्गति दाता एक। कोई मनुष्य तो हो नहीं सकता। देवताओं की भी बात नहीं है। वहाँ तो सुख ही सुख है, वहाँ कोई भक्ति नहीं करते। भक्ति की जाती है भगवान से मिलने के लिए। सतयुग में भक्ति होती नहीं क्योंकि 21 जन्मों का वर्सा मिला हुआ है। तब गाया भी जाता है दु:ख में सिमरण…… यहाँ तो अथाह दु:ख हैं। घड़ी-घड़ी कहते हैं भगवान रहम करो। यह कलियुगी दु:खी दुनिया सदैव नहीं रहती। सतयुग-त्रेता पास्ट हो गये हैं, फिर होंगे। लाखों वर्ष की तो बात भी याद नहीं रह सकती है। अब बाप तो सारी नॉलेज देते हैं, अपना परिचय भी देते हैं और रचना के आदि-मध्य-अन्त का राज़ भी समझाते हैं। 5 हज़ार वर्ष की बात है। तुम बच्चों को ध्यान में आ गया है। अभी तो पराये राज्य में हो। तुमको अपना राज्य था। यहाँ तो लड़ाई से अपना राज्य लेते हैं, हथियारों से, मारामारी से अपना राज्य लेते हैं। तुम बच्चे तो योगबल से अपना राज्य स्थापन कर रहे हो। तुम्हें सतोप्रधान दुनिया चाहिए। पुरानी दुनिया खत्म हो नई दुनिया बनती है, इसको कहा जाता है कलियुग पुरानी दुनिया। सतयुग है नई दुनिया। यह भी किसको पता नहीं है। सन्यासी कह देते यह आपकी कल्पना है। यहाँ ही सतयुग है, यहाँ ही कलियुग है। अब बाप बैठ समझाते हैं एक भी ऐसा नहीं है जो बाप को जानते हो। अगर कोई जानता होता तो परिचय देता। सतयुग-त्रेता क्या चीज है, किसको समझ में थोड़ेही आता है। तुम बच्चों को बाप अच्छी रीति समझाते रहते हैं। बाप ही सब कुछ जानते हैं, जानी जाननहार अर्थात् नॉलेजफुल है। मनुष्य सृष्टि का बीजरूप है। ज्ञान का सागर, सुख का सागर है। उनसे ही हमको वर्सा मिलना है। बाप नॉलेज में आप समान बनाते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) यह पापों से मुक्त होने का समय है इसलिए अभी कोई पाप नहीं करना है। पुरानी सब सामग्री इस रूद्र यज्ञ में स्वाहा करनी है।

2) अभी वानप्रस्थ अवस्था है इसलिए बाप, टीचर के साथ-साथ सतगुरू को भी याद करना है। स्वीट होम में जाने के लिए आत्मा को सतोप्रधान (पावन) बनाना है।

वरदान:- समय को शिक्षक बनाने के बजाए बाप को शिक्षक बनाने वाले मास्टर रचयिता भव
कई बच्चों को सेवा का उमंग है लेकिन वैराग्य वृत्ति का अटेन्शन नहीं है, इसमें अलबेलापन है। चलता है…होता है…हो जायेगा…समय आयेगा तो ठीक हो जायेगा…ऐसा सोचना अर्थात् समय को अपना शिक्षक बनाना। बच्चे बाप को भी दिलासा देते हैं – फिकर नहीं करो, समय पर ठीक हो जायेगा, कर लेंगे। आगे बढ़ जायेंगे। लेकिन आप मास्टर रचयिता हो, समय आपकी रचना है। रचना मास्टर रचयिता का शिक्षक बनें यह शोभा नहीं देता।
स्लोगन:- बाप की पालना का रिटर्न है – स्व को और सर्व को परिवर्तन करने में सहयोगी बनना।

TODAY MURLI 2 OCTOBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 2 October 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 1 October 2018 :- Click Here

02/10/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, from being worshippers you are now becoming worthy of worship. From being b e ggar s you are becoming prince s. Therefore, you should be dancing and jumping with joy. You should never cry.
Question: In order to make Bharat wealthy, in what aspect does the Father make you equal to Himself by showering the imperishable jewels of knowledge on you?
Answer: Baba says: Children, just as I am Rup Basant, so I also make you rup basant. Imbibe the imperishable jewels of knowledge you have received and donate them through your mouths. It is by your making this great donation that Bharat will become wealthy. Just as you are claiming your inheritance from the Father, so you have to enable others to receive it in the same way. It is your duty to show the path to everyone and become those who bestow happiness.
Song: On the path of justice. 

Om shanti. This song applies to you children and it also applies to the Congress Party, because they too endured difficulties and liberated Bharat from the British. Therefore, this song was composed in that happiness. They continue to celebrate in happiness but, no matter what they have accomplished, the old world has not changed. The world is as old as it was before. You children know that we are changing this world by following shrimat. That cannot be called shrimat. Shrimat only comes from the one God. You are now following the Father’s most elevated shrimat, but those people have put Shri Krishna’s name. You children now know that these are Shri Shiv Baba’s directions. It does not seem right to call Krishna ‘Baba’. These directions are from Shri Shiv Baba. They cannot be called the directions of ‘Shri Krishna Baba’. You are making this Bharat pure again. The land of Bharat is important because it is the birthplace of the unlimited Father. This is the birthplace of the Father of all the human beings of the whole world, the One who is the Bestower of Salvation for All. This is called the highest and most elevated pilgrimage place of all. There is no other pilgrimage place as elevated as this one. However, they have changed the name in the Gita. The residents of Bharat themselves don’t know that Bharat is the birthplace of the unlimited Father. Although they celebrate Shiv Ratri, they don’t know who Shiva is, when He came or what His name and form are. You have now come to know this. You show a white star in the picture of the Shivalingam, so that people can clearly understand what the form of the Supreme Soul is. However, because they did not know how they could worship Him, they created a large form. In fact, He is a star. Baba was a jeweller. Baba knows that there are gems called ‘s tar r uby’, ‘fi ne s tar r uby’, sapphire etc. That is the most valuable one. It appeared in the newspaper that the largest star of all was stolen from a particular treasure. So this Shivalingam is red with a white star in the centre, a starlight. It is very easy to explain this. A star is white. Souls seen in divine visions also appear to be white. It is the same thing, but you just need to put a star. You don’t need to write anything else. It will be very easy to explain. In any case, there is an explanation at the bottom. The kingdom of heaven is your birthright because it is given by our Heavenly God the Father. Therefore, you should put a starlight. Baba is now giving you directions, so you must do the work quickly. There are some gems in which a first-class star can be seen. They have great value here, whereas in the golden age, these things have no value. Jewels there are considered to be stones; they are fixed to the palace walls. This world is now changing. You children know that you are now studying in order to claim your inheritance of becoming the masters of heaven from the Father. The more you study, the more elevated a status you will claim. You have to study and also teach others, that is, you have to make others similar to yourselves. Only then will you be able to claim a high status. You children know that you are Brahmins, and that you have to teach others this true pilgrimage. You have to give everyone the Father’s introduction. No human being knows the Father. There is only one Father. Everyone else has received their own individual parts. The part of one soul cannot be the same as another’s. Souls are imperishable and there cannot be any difference in their forms. Everyone’s body is different and there is a difference in the part of every soul. Each soul, which is like a starlight, is filled with an imperishable part ; it is an imperishable part. Only you understand these aspects, numberwise, according to your efforts. As for the soul, it has been praised as being a unique star sparkling in the centre of the forehead. It is amazing, is it not? It is such a tiny star and it is filled with a part of 84 births. When people hear these things, they will give you many thanks and say: It is truly the Supreme Soul who is teaching them. You have to teach everyone. Although Christians only know English, you can speak in Hindi and an interpreter can translate it into English simultaneously. They will have their own interpreters. You have to give the Father’s introduction. Just as the Father is the Bestower of Happiness and the Remover of Sorrow, so you children also have to become the same. You have to show the path to each and every one. It is the duty of you children to make others happy. Since you yourselves are claiming such a huge inheritance from the Father you also have to enable others to claim it. This is the greatest donation. Each version is worth hundreds of thousands of rupees. If the versions in the scriptures are worth hundreds or thousands of rupees, why is Bharat so poverty-stricken? Therefore, you children have to explain to others and introduce the Father as the Supreme Soul. He is Rup as well as Basant (the Embodiment of Yoga and the One who Showers Knowledge), but how can He shower these imperishable jewels of knowledge? He definitely needs a body. Therefore, the Father comes and makes you children, that is, you souls, rup basant. You have to imbibe these imperishable jewels of knowledge. Donate them through your lips. No one can place a value on such jewels. There is a story about this as well. So, you should imbibe this. People pray to Shiv Baba and say: Innocent Lord, fill everyone’s apron with jewels. You have to fill your aprons with these imperishable jewels of knowledge. Then, when you are there, the walls of your palaces will be embedded with diamonds and jewels. Therefore, you have to explain this to each and every one. The land of nirvana, that is, the land of liberation, is the place where the Father resides. For Buddha etc. they say they went beyond or that they went to Nirvana. That is everyone’s home. That is the Father’s home too. The Father has now come to take everyone back home. He is giving you limitless wealth. So, if you don’t give the Father’s introduction, who would? The Father says: When someone says: “I am a Christian”, or, “I am such-and-such”, all of those are bodily religions. You have to renounce all of those and remember Me, your Father, the One whom you have been remembering on the path of devotion. It is said: Your final thoughts will lead you to your destination. It is mentioned in the Granth too that if you remember your wife at the end, that will be your destination. Now, you cannot become a cockerel or something like that, but everyone does take rebirth. Here, the Father says: Become soul conscious and remember Me. You have forgotten your Father and your home. The play is now about to end and it will then have to repeat. Those of Islam, the Buddhists and the Christians have all been repeating their parts. This drama has repeated innumerable times; there is no beginning or end to it. There is the beginning and the end of the drama but it continues to repeat automatically. Those who have understood these aspects should tell others to come and know the Father. Because of not knowing the Father, they have become orphans. Now, imagine, if the Pope said, “Do not fight”, would they accept that? The Pope is the head of the Christians ; he is their guru. So, why do they not follow their guru’s directions? Those people are not likely to accept anything said by anyone. The Father comes and gives directions, and so you have to explain this to others. Gradually, people of all religions will come to understand this. At first, there were just a few of you Sindhis, and now many have started to come. You should even give the Father’s introduction to the Christians so that they too can claim a right to the Father’s inheritance. You must not tire of doing this. These exhibitions must continue with full force. There is a great responsibility for service on the serviceable children. They are the ones who will be seated on the heart-throne and then be seated on a physical throne. You have to become great donors and remember the Father. People insure themselves for their next birth; they donate in the name of God or in the name of Krishna. In fact, Krishna was already wealthy; he had already received the donation; he had claimed his inheritance from the Father. Since he became the p rince of heaven, he must have claimed his inheritance from the One who established heaven. Nevertheless, how he claimed it does not enter anyone’s intellect. It is the Father who gave Krishna his inheritance. An inheritance is also known as a donation. People donate their daughter (when she marries). The Father says: I have now come to give you the donation of the imperishable jewels of knowledge, and so arrangements have to be made for this. Even if it does incur expenditure, there is no harm in that. Some children have seen visions here. Abraham, Buddha and Christ etc., all of those important souls, come at the end. Surely, they will hear this knowledge; only then could they claim their status. You children should become happy. The Christians have a lot of connection with Bharat. They took this kingdom and they are also giving the return of that. They have to take great care of Bharat, because if Bharat were to be attacked, all the money invested by them would be lost. They have given a lot of money to Bharat and so all of their income from that would be lost. This is why they try to save Bharat in every possible way. They definitely need help. They also want a return. Therefore, they definitely have to look after Bharat. Baba knows that Bharat is poor and He therefore inspires those abroad to help and He also comes here to help. They are helping now and the Father gives help for the future. So, a very good marquee should be erected and all the Christians should be invited. There are very good pictures which contain the whole knowledge. Day by day, the locks on the intellects will continue to open. You know that such a huge part is recorded in such a tiny soul! Scientists too will be wonder struck by these things. Scientists understand that someone is inspiring them. Destruction will definitely take place. This is fixed in the drama. Destruction has nothing to do with Shankar; they have just used his name. Natural calamities too will take place. They will be very happy when they hear these things. They will give you many thanks. Many foreigners will come. They will come to you while you sit at home, and so you must definitely donate to them. To us, all of them are poverty-stricken orphans. People of the whole world have become orphans because they do not have the introduction of the Mother and Father. You children are becoming the masters of the world, and so you should have the intoxication of service. Send them telegrams that say: Come and learn how the Father has come to take all souls back home. Souls become happy that the play is now truly coming to an end, that Baba has come to take us back and that we will then go to the land of happiness. For half the cycle, as worshippers, we remembered the Father. We now have to become worthy of worship again. Therefore, you should be dancing and jumping with joy. By not having happiness you continue to weep. Those who weep, lose out. Yes, if you shed tears of love while in remembrance of the Father who gives you happiness, they are like the beads of a garland. By following the Father’s shrimat, you will become elevated. This father also tells you to follow Shiv Baba’s directions at every step. Shrimat is the most elevated of all directions. This is a very elevated study. When people go on pilgrimages, they have to face many difficulties. Previously, they used to go on foot. The Government has now made it easy for them. Therefore, the Father says: Follow shrimat at every step. If you climb carefully, you will taste the nectar of heaven, but if you fall, you will be totally crushed. You should take advice at every step. Write a letter to Shiv Baba, through Brahma and the Brahma Kumaris and you will truly then remember Shiv Baba. However, many children forget to write this. One day, the lock on everyone’s intellect will definitely open. Children should have a great deal of interest in doing service. You have to do a lot of service. This too is fixed in the drama. All the expenses will automatically be met. Everything will happen suddenly. The Father says: It is difficult for you to find even three feet of land. Nevertheless, you still made Bharat into heaven a cycle ago. Achcha, a great deal has been explained to you, but it also has to be imbibed. When you eat very rich food, it is difficult to digest it. Although many come to the exhibitions, none of them has the faith that the Father is the One who teaches you people Raja Yoga. First of all, inspire them to have this faith. You can explain that you are the Prajapita Brahma Kumars and Kumaris and that only the Supreme Father, the Supreme Soul, is the Creator. The inheritance can only be received from the Father. Until you become a child of the Father, you cannot receive your inheritance. The Father is the One who gives the fruit to the devotees. There are so many Brahma Kumars and Brahma Kumaris. Prajapita Brahma is also called a creator. Creation of the new world is now taking place. God speaks: I teach you Raja Yoga. Achcha.

To the sweetest lucky stars, love, remembrance and good morning from the Sun and the Moon of Knowledge. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to sit on the Father’s heart throne, take responsibility for service. You definitely have to become great donors. There is no harm if some expense is incurred in donating knowledge.
  2. This is a very steep ascent and you must therefore be very cautious. Continue to take shrimat at every step.
Blessing: May you be a true embodiment of tapasya sitting in the cottage of the forehead and experience the sweetness of introspection.
The children who control their words and thereby save their energy and time automatically experience the sweetness of introspection. There is the difference of day and night between the sweetness of introspection and the sweetness of talking and moving around. Someone who is introverted constantly experiences himself to be an image of tapasya seated in the cottage of the forehead. Such a soul observes silence of the mind and does not have waste thoughts or speak words through the mouth. Therefore, there is the alokik experience of the sweetness of introspection.
Slogan: Those who understand all secrets and remain happy in all adverse situations are enlightened souls.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 2 OCTOBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 2 October 2018

To Read Murli 1 October 2018 :- Click Here
02-10-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम अभी पुजारी से पूज्य, बेगर से प्रिन्स बन रहे हो, इसलिए तुम्हें खुशी में खग्गियां मारनी है, कभी भी रोना नहीं है”
प्रश्नः- अविनाशी ज्ञान रत्नों की वर्षा से भारत को साहूकार बनाने के लिए बाप तुम्हें किस बात में आप समान बनाते हैं?
उत्तर:- बाबा कहते – बच्चे, जैसे मैं रूप बसन्त हूँ, ऐसे तुम्हें भी रूप बसन्त बनाता हूँ। जो अविनाशी ज्ञान रत्न तुम्हें मिले हैं उन्हें धारण कर मुख से दान करो। इसी महादान से भारत साहूकार बनेगा। जैसे तुम बच्चे बाप से वर्सा ले रहे हो ऐसे औरों को भी दो। तुम्हारा फर्ज है सबको रास्ता बताना, सुखदाई बनना।
गीत:- इन्साफ की डगर पर……. 

ओम् शान्ति। यह गीत कांग्रेस से भी लगता है और तुम बच्चों से भी लगता है क्योंकि उन्होंने भी तो सहन करके अंग्रेजों से भारत को छुड़ाया। तो यह गीत उनकी खुशी में है। खुशियां तो मनाते रहते हैं, भल कितना भी किया परन्तु पुरानी दुनिया तो नहीं बदली ना। दुनिया तो वही पुरानी है। तुम बच्चे जानते हो श्रीमत पर हम इस दुनिया को बदल रहे हैं। वह श्रीमत नहीं कहेंगे। श्रीमत है ही एक भगवान् की। तुम हो अभी बाप की श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ श्रीमत पर। उन्होंने फिर श्रीकृष्ण का नाम डाल दिया है। अभी तुम बच्चे जानते हो यह है श्री शिवबाबा की मत। कृष्ण को बाबा कहना शोभता नहीं। श्री शिवबाबा की मत। श्री कृष्ण बाबा की मत तो नहीं कहेंगे। तुम इस भारत को फिर से पवित्र बना रहे हो। भारत खण्ड ही मुख्य है क्योंकि यह बेहद के बाप का बर्थप्लेस है। सारी दुनिया के मनुष्य-मात्र का जो बाप है अर्थात् सर्व का सद्गति दाता है, उनका यह बर्थ प्लेस है। इसको सर्वोत्तम तीर्थ कहा जाता है, इस जैसा ऊंच ते ऊंच तीर्थ कोई है नहीं। परन्तु गीता में नाम बदल दिया है। यह भारतवासी खुद नहीं जानते कि यह भारत बेहद के बाप का बर्थ प्लेस है। भल शिवरात्रि मनाते हैं परन्तु यह पता नहीं है कि शिव कौन है? कब आया? उनका नाम-रूप क्या है? तुम अब जान गये हो। अभी शिवलिंग के चित्र में सफेद स्टॉर दिखाते हैं, जो मनुष्य क्लीयर समझें कि परमात्मा का यह रूप है। परन्तु पूजा आदि कैसे की जाए – इसलिए बड़ा रूप बनाया है। है वास्तव में स्टॉर। बाबा जौहरी भी है। बाबा को मालूम है एक पत्थर भी होता है जिसको स्टॉर रूबी, स्टॉर फाइन माणिक, स्टॉर नीलम आदि कहते हैं। वह मोस्ट वैल्युबुल होता है। अखबार में भी पड़ा था कि सबसे बड़ा स्टॉर फलाने ख़ज़ाने से चोरी हो गया है। तो यह शिवलिंग लाल तो है, इनमें बीच में है सफेद स्टॉर, स्टॉर लाइट। समझाने में बहुत सहज होगा। स्टॉर सफेद होता है ना। आत्मा का भी सफेद ही साक्षात्कार होता है। चीज़ तो यही है। सिर्फ स्टॉर लगाना है। और कुछ लिखने की दरकार नहीं रहेगी। समझाना बहुत सहज होगा। नीचे यह लिखत तो है ही – आपका जन्म सिद्ध अधिकार स्वर्ग की राजाई क्योंकि हेविनली गॉड फादर है। तो स्टॉर लाइट डालना है। अब बाबा डायरेक्शन दे रहे हैं। झट काम कर लेना चाहिए। ऐसे पत्थर भी होते हैं जिसमें स्टॉर बड़ा फर्स्टक्लास दिखाई दे। यहाँ उनकी बहुत वैल्यु है। फिर सतयुग में तो इन चीज़ों की वैल्यु होती नहीं। वहाँ यह जवाहरात तो पत्थर गिने जाते हैं, महलों में लगाते रहते हैं। यह दुनिया अब बदल रही है। तुम बच्चे जानते हो हम स्वर्ग का मालिक बनने लिए बाप से वर्सा ले रहे हैं, पढ़ रहे हैं। जितना जो पढ़ेगा उतना ऊंच पद पायेगा। पढ़ना और फिर पढ़ाना भी है, यानी आप समान बनाना है तब ही ऊंच पद पा सकेंगे। बच्चे समझते हैं हम ब्राह्मण हैं, हमको सच्ची यात्रा सिखलानी है। हरेक को बाप का परिचय देना है। कोई भी मनुष्यमात्र बाप को नहीं जानते। बाप तो एक ही है। बाकी सबको अपना-अपना पार्ट मिला हुआ है। एक आत्मा का पार्ट न मिले दूसरे से। आत्मा तो अविनाशी है, उनके रूप में कोई फ़र्क नहीं हो सकता। शरीरों में फ़र्क है और हर एक आत्मा के पार्ट का फ़र्क है। हर एक आत्मा जो स्टॉर लाइट है, उसमें अविनाशी पार्ट भरा हुआ है। इम्पेरिसिबुल पार्ट है। यह बातें भी तुम ही जानते हो, नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार। जैसे आत्मा है, गाते भी हैं चमकता है भ्रकुटी के बीच अजब सितारा। अजब है ना। कितना छोटा-सा स्टॉर, उसमें 84 जन्मों का पार्ट भरा हुआ है। यह बातें जब सुनेंगे तो बहुत आ़फरीन देंगे कि बरोबर इन्हों को तो पढ़ाने वाला वह परमात्मा है। तुमको तो सबको पढ़ाना है। भल क्रिश्चियन लोग अंग्रेजी जानने वाले हैं, तुम हिन्दी में बोलो, फिर इन्टरप्रेटर इंगलिश में ट्रांसलेट कर सुनाता जायेगा। उनके पास इन्टरप्रेटर (अनुवाद करने वाले) होते हैं। बाप का परिचय तो देना है। जैसे बाप दु:ख हर्ता, सुख कर्ता है, वैसे तुम बच्चों को भी बनना है। हर एक को रास्ता बताना है। औरों को भी सुखदाई बनाना – यह तुम बच्चों का फ़र्ज है। तुम खुद बाप से इतना वर्सा ले रहे हो तो फिर औरों को भी देना पड़े। यह है महादान। यह एक-एक वर्शन्स लाखों रूपयों का है। शास्त्रों के वर्शन्स अगर लाखों रूपये के होते तो फिर भारत इतना कंगाल क्यों होता?

तो तुम बच्चों को समझाना है, बाप का परिचय देना है, वह भी परम आत्मा है। रूप भी है, बसन्त भी है। परन्तु अविनाशी ज्ञान रत्नों की वर्षा कैसे करें? जरूर शरीर चाहिए। तो बाप आकर तुम बच्चों को अर्थात् तुम्हारी आत्मा को रूप-बसन्त बनाते हैं। अविनाशी ज्ञान रत्नों की धारणा करनी है। मुख द्वारा फिर यह दान देना चाहिए, जिन रत्नों का कोई मूल्य नहीं कर सकता। उस पर भी एक कहानी है। तो यह धारणा करनी चाहिए। कहते हैं ना शिवबाबा बम-बम भोलानाथ भर दे झोली। यह अविनाशी ज्ञान रत्नों से झोली भरनी है। फिर वहाँ तो तुम्हारे महल हीरे जवाहरों के बन जायेंगे। तो यह हर एक को समझाना है। जहाँ बाप रहते हैं वह है निर्वाणधाम अथवा मुक्तिधाम। बुद्ध आदि के लिए कहते हैं पार निर्वाण गया। तो वह सभी का होम (घर) हुआ ना। वह बाप का भी होम है। बाप अभी आये हैं सबको ले जाने लिए। अथाह धन दे रहे हैं। तो बाप का परिचय तुम नहीं देंगे तो कौन देंगे? बाप कहते हैं यह सब देह के धर्म हैं कि मैं क्रिश्चियन हूँ, फलाना हूँ…….. यह सब छोड़ अब मुझ बाप को याद करो। जिसको तुम भक्ति मार्ग में याद करते आये हो। गाया भी जाता है अन्त मती सो गति। ग्रंथ में भी है ना – अन्तकाल जो स्त्री सिमरे…….. अब कूकर, सूकर तो बन नहीं सकते। फिर भी जन्म तो मिलता है ना। यहाँ बाप कहते हैं – देही-अभिमानी बनो, मुझे याद करो। तुम अपने बाप को और घर को भूल गये हो। अब नाटक पूरा होता है फिर रिपीट होना है। इस्लामी, बौद्धी, क्रिश्चियन सब अपना पार्ट रिपीट करते आये हैं। यह ड्रामा अनेक बार रिपीट होता आया है। उनका कोई आदि अन्त नहीं। ड्रामा का आदि, अन्त तो है। फिर-फिर रिपीट होता रहता है, आटोमेटिकली। यह बातें जिनकी समझी हुई हैं उनको औरों को समझाना पड़े कि आकर बाप को जानो। बाप को न जानने से मनुष्य आरफन बन गये हैं। अभी समझो, पोप कहते हैं कि लड़ाई न करो तो भी वह मानेंगे थोड़ेही। क्रिश्चियन लोगों का बड़ा है पोप। सबका गुरू है। फिर गुरू की मत पर क्यों नहीं चलते? यह कोई की भी बात मानने वाले नहीं हैं। बाप ही आकरके मत देते हैं तो सबको समझाना है। धीरे-धीरे सब धर्म वाले समझेंगे। पहले तुम सिर्फ सिन्धी थे, अभी सब आने लगे हैं। क्रिश्चियन्स को भी बाप का परिचय देना चाहिए जिससे वे भी बाप से वर्सा लेने के हकदार बनें। इसमें थकना नहीं चाहिए। यह प्रदर्शनी तो बहुत जोर से चलेगी। सर्विसएबुल बच्चों के ऊपर सर्विस की बड़ी जिम्मेवारी है। वही दिल पर चढ़ेंगे और फिर तख्त पर सवार होंगे। महादानी बनना है और फिर याद करना है बाप को। वह इन्श्योर करते हैं दूसरे जन्म लिए। ईश्वर अर्थ वा कृष्ण अर्थ दान करते हैं। वास्तव में कृष्ण तो है ही साहूकार, उनका तो दान लिया हुआ है, बाप से वर्सा लिया हुआ है। स्वर्ग का प्रिन्स बना तो स्वर्ग स्थापन करने वाले से वर्सा लिया ना। परन्तु कैसे लिया? यह किसकी बुद्धि में नहीं बैठता। बाप ने ही कृष्ण को भी वर्सा दिया। वर्से को ही दान भी कहा जाता है। कन्या दान करते हैं ना। अभी बाप कहते हैं मैं तुमको अविनाशी ज्ञान रत्नों का दान करने आया हूँ, इसके लिए प्रबन्ध रचना पड़े। भल खर्चा हो, हर्जा नहीं। हमारे पास बच्चों ने साक्षात्कार तो किया है। इब्राहम, बुद्ध, क्राइस्ट आदि सब बड़े-बड़े अन्त में आते हैं। जरूर सुनेंगे तब तो पद पायेंगे ना। बच्चों को तो खुश होना चाहिए। क्रिश्चियन का भारत से कनेक्शन बहुत है। राजाई भी ली फिर रिटर्न भी कर रहे हैं। उन्हों को तो भारत की बहुत सम्भाल करनी है। अगर भारत पर कोई चढ़ाई कर ले तो सब पैसे खत्म हो जाएं। उन्हों के पैसे तो बहुत दिये हुए हैं। सारी रकम ही खलास हो जाए इसलिए हर तरह से कोशिश करेंगे भारत को बचाने की। इन्हों को मदद तो चाहिए जरूर और रिटर्न भी चाहिए। उनको तो सम्भाल करनी ही है। बाबा जानते हैं भारत गरीब है तो वहाँ से भी मदद कराते हैं और खुद भी आकर मदद दे रहे हैं। अभी वह मदद देते हैं और भविष्य के लिए फिर बाप मदद देते हैं। तो बहुत अच्छा एक मण्डप बनाकर वहाँ सब क्रिश्चियन को निमंत्रण देना है। कितने अच्छे-अच्छे चित्र हैं, इनमें सारी नॉलेज है। दिन-प्रतिदिन बुद्धि का ताला खुलता जायेगा।

तुम जानते हो छोटी आत्मा में कितना भारी पार्ट भरा हुआ है! साइंसदान भी इस बात पर बड़ा वन्डर खायेंगे। साइंसदान भी समझते हैं कि कोई हमको प्रेरता है। विनाश तो होना है जरूर। यह ड्रामा में नूँध है। शंकर की कोई बात नहीं, यह तो निमित्त करके नाम रखा है। नैचुरल कैलेमिटीज भी होनी है। यह बातें सुनने से वह बड़े खुश होंगे, तुमको बहुत थैंक्स देंगे। बहुत फॉरेनर्स आयेंगे। घर बैठे आते हैं तो दान जरूर देना है। अपने लिए तो इस समय सब आरफन, कंगाल हैं। सारी दुनिया छोरे और छोरियां हैं क्योंकि फादर-मदर का ही परिचय नहीं है। तो तुम विश्व के मालिक बनते हो। तो बच्चों को सर्विस का भी नशा होना चाहिए। तार भी देंगे कि आकर समझो, बाप आये हुए हैं सब आत्माओं को ले जाने। आत्मा खुश होती है – बरोबर अब नाटक पूरा हुआ, अब बाबा आये हैं ले जाने। फिर हम सुखधाम में आयेंगे। आधा-कल्प पुजारी बन बाप को याद किया है। अब फिर पूज्य बनना है। तो खुशी में खग्गियां मारनी चाहिए। खुशी न होने से फिर रोते रहते। जो रोते हैं सो खोते हैं। हाँ, ऐसे सुख देने वाले बाप की याद में प्रेम के आंसू आये तो वह माला के दाने हैं। बाप की श्रीमत से श्रेष्ठ बनेंगे। यह बाप भी कहते हैं कदम-कदम पर शिवबाबा की मत पर चलना है। श्रीमत ही श्रेष्ठ है। बड़ी ऊंची पढ़ाई है। तीर्थों पर मनुष्य जाते हैं, बहुत कठिनाईयाँ सामने आती हैं। आगे तो पैदल जाते थे, अभी गवर्मेन्ट ने सहज कर दिया है। तो बाप समझाते हैं कदम-कदम पर श्रीमत पर चलना है। सावधानी से चढ़े तो चाखे वैकुण्ठ रस, गिरे तो चकनाचूर। कदम-कदम पर राय लेनी है। चिट्ठी लिखो शिवबाबा थ्रू ब्रह्मा अथवा ब्रह्माकुमारियां, तो शिवबाबा याद पड़ेगा। परन्तु बहुत बच्चे लिखने में भूल जाते हैं। एक दिन सबकी बुद्धि का ताला जरूर खुलने का है। बच्चों को सर्विस का बहुत शौक चाहिए। सर्विस बहुत करनी है। यह भी ड्रामा में नूँध है। खर्चा आपेही आयेगा। अनायास ही सब कुछ होता जायेगा। बाप कहते हैं तुमको 3 पैर पृथ्वी का मिलना भी मुश्किल है। फिर भी तुमने कल्प पहले भारत को स्वर्ग बनाया ही है।

अच्छा, समझाते तो बहुत हैं, धारणा भी हो। जास्ती भारी माल खाने से फिर हज़म नहीं होता है। प्रदर्शनी में भल आते तो बहुत हैं परन्तु एक को भी यह निश्चय नहीं बैठता है कि इन्हों को पढ़ाने वाला अथवा राजयोग सिखलाने वाला बाप है। पहले-पहले यह निश्चय बिठाना है। तुम समझा सकते हो यह है प्रजापिता ब्रह्माकुमार कुमारियां। रचयिता तो एक ही परमपिता परमात्मा है। बाप से ही वर्सा मिलना है। बाप का जब तक बच्चा न बनें तो वर्सा मिल न सके। भक्तों को फल देने वाला है बाप। इतने सब ब्रह्माकुमार-कुमारियां हैं। प्रजापिता ब्रह्मा को भी क्रियेटर कहते हैं। अभी रचना होती है नई दुनिया की। भगवानुवाच मैं तुमको राजयोग सिखाता हूँ। अच्छा!

मीठे-मीठे लकी सितारों प्रति ज्ञान सूर्य, ज्ञान चन्द्रमा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप के दिलतख्त पर बैठने के लिए सर्विस की जवाबदारी लेनी है। महादानी जरूर बनना है। ज्ञान दान करने में कुछ खर्चा हो तो हर्जा नहीं।

2) ऊंची चढ़ाई है इसलिए बहुत सावधानी से चलना है। कदम-कदम पर श्रीमत लेते रहना है।

वरदान:- भ्रकुटी की कुटिया में बैठ अन्तर्मुखता का रस लेने वाले सच्चे तपस्वीमूर्त भव
जो बच्चे अपने बोल पर कन्ट्रोल कर एनर्जी और समय जमा कर लेते हैं, उन्हें स्वत: अन्तर्मुखता के रस का अनुभव होता है। अन्तर्मुखता का रस और बोलचाल का रस – इसमें रात दिन का अन्तर है। अन्तर्मुखी सदा भ्रकुटी की कुटिया में तपस्वीमूर्त का अनुभव करता है। वो व्यर्थ संकल्पों से मन का मौन और व्यर्थ बोल से मुख का मौन रखता है इसलिए अन्तर्मुखता के रस की अलौकिक अनुभूति होती है।
स्लोगन:- राज़युक्त बन हर परिस्थिति में राज़ी रहने वाले ही ज्ञानी तू आत्मा हैं।
Font Resize