2 JANUARY ki murli

TODAY MURLI 2 JANUARY 2021 DAILY MURLI (English)

02/01/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, to have regard for the Father’s shrimat means never to miss a murli – to obey all the instructions.
Question: If you children are asked if you are happy and content, what should you reply with intoxication?
Answer: Tell them: I was concerned to find the One who lives beyond in the brahm element. Now that I have found Him, what else would I want? I have attained what I wanted. You children of God are not concerned about anything else. The Father has made you belong to Him and is placing crowns on your heads. So, what do you have to be concerned about?

Om shanti. The Father says that it definitely has to be in the intellects of you children that Baba is the Father, the Teacher and the Supreme Guru. You must definitely remember this. No one else can teach you this remembrance. Only the Father comes and teaches you this every cycle. Only He is the Ocean of Knowledge and the Purifier. He is the Father, the Teacher and the Guru. Now that you have each received a third eye of knowledge, you understand this. Although you children understand this, some forget the Father, and so how could they remember the Teacher or the Guru? Maya is so powerful that, even though you know the praise of His three forms, she makes you forget all three of them; she is such an almighty authority! Children also write: Baba, we forget! Maya is so powerful! According to the drama, this is very easy. You children understand that there can never be anyone else like Him. He is the Father, the Teacher and the Satguru. He really is this; it is not a tall story. You should have this understanding inside you, but Maya makes you forget. Some say that they are defeated. So, how could they accumulate multimillions at every step? The deities are portrayed with the symbol of a lotus. This cannot be given to everyone. This study is taught by God, not by human beings. This study can never be taught by human beings. Although the deities are praised, only the one Father is the Highest on High. How could there be extra praise for them since today they have a “donkeyship” and tomorrow they will have the kingdom? You are now making effort to become like them (Lakshmi and Narayan). You know that many have failed in their efforts. Only those who passed in the previous cycle are studying now. In fact, this knowledge is very easy but Maya makes you forget it. The Father says: Write your chart! However, you are not able to do this. For how long would you sit and write? When you do sit down to write it, you have to check whether you stayed in remembrance for two hours. Then it can also be seen whether you are following the Father’s shrimat by putting it into practise. The Father would understand that, perhaps, such poor, hopeless children are ashamed! Otherwise, shrimat would be put into practice. However, hardly two percent write their charts. Children don’t have that much regard for shrimat. Even though they receive murlis, they don’t study them. Their hearts must definitely be pinching them that Baba really is speaking the truth. If I don’t study the murli, what can I explain to others? (The pilgrimage of remembrance.) Om shanti. The spiritual Father explains to the spiritual children. You children understand that we truly are souls and that the Supreme Father, the Supreme Soul, is teaching us. What else does He say? Remember Me and you will become the masters of heaven! The Father, the study and the Teacher are all included in this. Even the Bestower of Salvation is included in this. All the knowledge is merged in a few words. You come here to revise this. It is only because you yourselves say that you forget that the Father explains this. That is why you come here and revise it. Even though some are living here, they are unable to revise it. It is not in their fortune! The Father inspires you to make effort. Only the one Father inspires you to make effort. There can be no favouritism in this; nor is there a special study. In a worldly study, they employ a teacher especially to give private tuition. That One teaches everyone the same to create their fortune. To what extent would that Teacher teach each one privately? There are so many children! In a worldly study, some students are children of important people and so they are taught privately. Their teacher can understand that someone is a dull student and that he would therefore make him worthy of claiming a scholarship. That Father does not do this. That One teaches everyone the same. Other teachers inspire you to make extra effort. That One doesn’t ask any individual to make extra effort. To help someone make extra effort means that his teacher would have special mercy for him, although the teacher might be paid to make special time for teaching the student through which he could become clever. Here, though, there is no question of extra study; there is no question of it at all. He gives you just the one great mantra: Manmanabhav! You understand what happens through remembrance. You understand that the Father is the Purifier. You know that by remembering Him you will become pure. You children now have knowledge. The more remembrance you have, the purer you will become. The less remembrance you have, the less pure you will become. It all depends on the efforts of you children. We have to become Lakshmi and Narayan by remembering the unlimited Father. Everyone knows their praise. It is said: You are charitable souls and we are sinful souls. So many temples have been built to them. What do people go there for? There is no benefit in just having a glimpse. On seeing others going to the temples, they also go. They simply go there to have a glimpse. Some say: So-and-so is going on a pilgrimage and I want to go too. What will happen through that? Nothing at all! You children have also been on pilgrimages. Just as they celebrate all the festivals, so they consider a pilgrimage to be a festival too. You now consider the pilgrimage of remembrance to be a festival. You stay on the pilgrimage of remembrance. There is just the one word: Manmanabhav! This pilgrimage of yours is eternal. They also say that they have been going on pilgrimages eternally. However, you have the knowledge to tell them that you go on this pilgrimage every cycle. Only the Father comes and teaches this pilgrimage. They go on pilgrimage to the four main pilgrimage places for birth after birth. The unlimited Father says: Remember Me and you will become pure! No one else can say that you can become pure by going on a pilgrimage. When people go on a pilgrimage, they remain pure. Nowadays, everything there is so dirty! They don’t remain pure. No one knows about this spiritual pilgrimage. The Father has now told you that this remembrance is the only true pilgrimage. Those people go on a pilgrimage and then, when they return, they become the same as they were. They continue to go around and around. Just as Vasco de Gama went around the world, so they also go around. There is the song: We went around everywhere and yet remained very far away from You. No one on the path of devotion can enable you to attain Him. No one has found God; they have remained distant from God. They go on their pilgrimages and then, when they return home, they get trapped in the five vices. All of those pilgrimages are false. You children now understand that this is the most elevated confluence age when the Father comes. One day, everyone will come to know that the Father has come. It is said: “Ultimately, you attain God.” But how? No one knows this. You sweetest children understand that you are once again making Bharat into heaven by following shrimat. You only mention the name Bharat. At that time there are no other religions. The whole world becomes pure. There are now innumerable religions. The Father comes and tells you the knowledge of the whole tree. He reminds you of this. You were deities and you became warriors, then merchants and then shudras. You have now become Brahmins. The Father gives you such an easy explanation of “Hum so” (I am what I was). Om means “I, a soul” and it is I, a soul, who goes around the cycle. Those people say that I, a soul, am the Supreme Soul and that the Supreme Soul is each soul. Not a single one of them knows the accurate meaning of “Hum so”. The Father says: Constantly remember this mantra! If you don’t have the cycle in your intellects, how can you become the rulers of the globe? We souls have now become Brahmins and will then become deities. You can go and ask anyone this and no one will be able to tell you the answer. They don’t even understand the meaning of 84 births. “The rise and fall of Bharat” has been remembered. That is fine! You children now understand everything about the stages of satopradhan, sato, rajo, tamo, the sun dynasty, the moon dynasty, the merchant dynasty. Only the Father, who is the Seed, is called the Ocean of Knowledge. He doesn’t enter this cycle. It isn’t that we souls become Supreme Souls; no! The Father makes us equal to Himself in being knowledge-full. He doesn’t make us into God, like Himself. These things have to be understood very clearly because only then will you be able to turn the cycle around in your intellect. This is called the discus of self-realisation. By using your intellect, you can understand how you enter the cycle of 84 births. Everything is included in this. The time, the clans and the dynasties are also all included in this. You children should have all of this knowledge in your intellects. It is only through knowledge that you receive a high status. When you have knowledge, you can also give it to others. You aren’t made to take any exam papers here. In other schools their exam papers come from abroad. The results of those who study abroad are given to them abroad. There, too, they must have an important education minister to have the papers checked. Who checks your papers? You yourselves would do that. You can make yourself into whatever you want. You can claim from the Father whatever status you want by making effort. At the exhibitions, you children ask them: What will you become? A deity, a barrister, or something else? To the extent that you remember the Father and do service, accordingly you will receive the fruit of that. Those who remember the Father very well can also understand that they have to do service. Subjects have to be created. A kingdom is being established, and so all kinds are needed for that. There are no advisers there. Only those who have less wisdom need advisers. There, you don’t need to have any advice. Some come to ask Baba for His advice. They ask for advice about gross things. “What should we do with our money”? “How should we carry on with our business?” Baba says: Don’t bring those worldly matters to the Father. He sometimes gives a little support to some children so that they don’t become disheartened. That is not My business. My business is the Godly business of showing you the path and how you can become the masters of the world. You are receiving shrimat whereas all the rest are devilish dictates. In the golden age there are elevated directions. In the iron age there are devilish dictates. That is the land of happiness. There you won’t need to ask: Are you happy and content? Is your health OK? Such questions don’t exist there. Such questions are asked here: You don’t have any difficulty, do you? Are you happy and content? Many things are also included in this. There is no sorrow there that you would need to ask this. This is the world of sorrow. In fact, no one should ask you these questions. Although Maya makes you fall, you have still found the Father. You should reply: Why are you are asking me about my welfare? We are God’s children. Therefore, why should you ask us about our welfare? I was concerned to find the One who resides beyond, in the brahm element. Now that I have found Him, what else would I be concerned about? Always remember whose children you are! Your intellects have the knowledge that, the war will begin when you become pure. Therefore, when they ask you whether you are happy and content, tell them: We are always happy and content. Even though you may be ill, you still remain in remembrance of the Father. You are happier and even more content here than you are in the golden age. Since you have found the Father who makes you so worthy and gives you the sovereignty of heaven, why should you have any concern? What concern would the children of God have? Even there, the deities have no concern. Therefore, as God is higher than the deities, how can the children of God have any concerns? Baba is teaching us! He is our Teacher and Satguru. Baba is placing crowns on our heads. We are becoming those who are crowned. You know how you receive the crown of the world. The Father doesn’t place it on you. You know that, in the golden age, the father places his crown on the head of his son who, in English, is called the Crown Prince. Here, unless the father places the crown on the head of his son, the son is impatient for his father to die, so that he can receive the crown. He wants to become an emperor from a prince. Such things don’t exist there. According to the system there, the father places the crown on his son’s head and steps away in his own time. There is no talk of the stage of retirement there. He builds palaces for his children and fulfils all their desires. You can understand that there is only happiness in the golden age. You will receive all happiness in a practical way when you go there. Only you understand what will exist in heaven. Where do you go when you shed your bodies? The Father is now teaching you in a practical way. You know that you really will go to heaven! They say that they are going to heaven, but they don’t know what heaven is. For birth after birth, you have been listening to things of ignorance. The Father is now telling you the truth. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to remain constantly happy and content, stay in remembrance of the Father. Put the crown of the kingdom on yourself by studying.
  2. Serve Bharat to make it into heaven by following shrimat. Always have regard for shrimat.
Blessing: May you be a soul who does subtle service and sees the practical proof of the power of the mind by having a connection and relationship with BapDada.
Just as you can see the practical proof of the power of the mind and the power of actions, in the same way, in order to see the practical proof of the most powerful power of silence, let there constantly be a clear connection and relationship with BapDada. This is called the power of yoga. Souls with such power of yoga can give souls sitting far away the physical experience of being personally in front of them. They can invoke souls and transform them. This is subtle service and for this increase the power of concentration.
Slogan: Only those who use all their treasures in a worthwhile way are great donor souls.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 2 JANUARY 2021 : AAJ KI MURLI

02-01-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – बाप की श्रीमत का रिगार्ड रखना माना मुरली कभी भी मिस नहीं करना, हर आज्ञा का पालन करना”
प्रश्नः- अगर तुम बच्चों से कोई पूछे राज़ी-खुशी हो? तो तुम्हें कौन-सा जवाब फ़लक से देना चाहिए?
उत्तर:- बोलो – परवाह थी पार ब्रह्म में रहने वाले की, वह मिल गया, बाकी क्या चाहिए। पाना था सो पा लिया…..। तुम ईश्वरीय बच्चों को किसी बात की परवाह नहीं। तुम्हें बाप ने अपना बनाया, तुम्हारे पर ताज रखा फिर परवाह किस बात की।

ओम् शान्ति। बाप समझाते हैं बच्चों की बुद्धि में जरूर होगा कि बाबा – बाप भी है, टीचर भी है, सुप्रीम गुरू भी है, इसी याद में जरूर होंगे। यह याद कभी कोई सिखला भी नहीं सकते। बाप ही कल्प-कल्प आकर सिखलाते हैं। वही ज्ञान सागर पतित-पावन भी है। वह बाप भी है, टीचर भी है, गुरू भी है। यह अब समझा जाता है , जबकि ज्ञान का तीसरा नेत्र मिला है। बच्चे भल समझते तो होंगे परन्तु बाप को ही भूल जाते हैं तो टीचर गुरू फिर कैसे याद आयेगा। माया बहुत ही प्रबल है जो तीन रूप में महिमा होते हुए भी तीनों को भुला देती है, इतनी सर्वशक्तिमान् है। बच्चे भी लिखते हैं बाबा हम भूल जाते हैं। माया ऐसी प्रबल है। ड्रामा अनुसार है बहुत सहज। बच्चे समझते हैं ऐसा कभी कोई हो नहीं सकता। वही बाप टीचर सतगुरू है – सच-सच, इसमें गपोड़े आदि की कोई बात नहीं। अन्दर में समझना चाहिए ना! परन्तु माया भुला देती है। कहते हैं हम हार खा लेते हैं, तो कदम-कदम में पद्म कैसे होंगे! देवताओं को ही पद्म की निशानी देते हैं। सबको तो नहीं दे सकते। ईश्वर की यह पढ़ाई है, मनुष्य की नहीं। मनुष्य की यह पढ़ाई कभी हो नहीं सकती। भल देवताओं की महिमा की जाती है परन्तु फिर भी ऊंच ते ऊंच एक बाप है। बाकी उनकी बड़ाई क्या है, आज गदाई कल राजाई। अभी तुम पुरूषार्थ कर रहे हो ऐसा (लक्ष्मी-नारायण) बनने का। जानते हो इस पुरूषार्थ में बहुत फेल होते हैं। पढ़ते फिर भी इतने हैं जितने कल्प पहले पास हुए थे। वास्तव में ज्ञान है भी बहुत सहज परन्तु माया भुला देती है। बाप कहते हैं अपना चार्ट लिखो परन्तु लिख नहीं पाते हैं। कहाँ तक बैठ लिखें। अगर लिखते भी हैं तो जांच करते हैं – दो घण्टा याद में रहे? फिर वह भी उन्हों को मालूम पड़ता है, जो बाप की श्रीमत को अमल में लाते हैं। बाप तो समझेंगे इन बिचारों को लज्जा आती होगी। नहीं तो श्रीमत अमल में लानी चाहिए। परन्तु दो परसेन्ट मुश्किल चार्ट लिखते हैं। बच्चों को श्रीमत का इतना रिगार्ड नहीं है। मुरली मिलते हुए भी पढ़ते नहीं हैं। दिल में लगता जरूर होगा – बाबा कहते तो सच हैं, हम मुरली ही नहीं पढ़ते तो बाकी औरों को समझायेंगे क्या? (याद की यात्रा) ओम् शान्ति। रूहानी बाप रूहानी बच्चों को समझाते हैं, यह तो बच्चे समझते हैं बरोबर हम आत्मा हैं, हमको परमपिता परमात्मा पढ़ा रहे हैं। और क्या कहते हैं? मुझे याद करो तो तुम स्वर्ग के मालिक बनो। इसमें बाप भी आ गया, पढ़ाई और पढ़ाने वाला भी आ गया। सद्गति दाता भी आ गया। थोड़े अक्षर में सारा ज्ञान आ जाता है। यहाँ तुम आते ही हो इसको रिवाइज करने लिए। बाप भी यही समझाते हैं क्योंकि तुम खुद कहते हो हम भूल जाते हैं इसलिए यहाँ आते हैं रिवाइज करने। भल कोई यहाँ रहते हैं तो भी रिवाइज नहीं होता है। तकदीर में नहीं है। तदबीर तो बाप कराते ही हैं। तदबीर कराने वाला एक बाप ही है। इसमें कोई की पास खातिरी भी नहीं हो सकती है। न स्पेशल पढ़ाई है। उस पढ़ाई में स्पेशल पढ़ने लिए टीचर को बुलाते हैं। यह तो तकदीर बनाने लिए सबको पढ़ाते हैं। एक-एक को अलग कहाँ तक पढ़ायेंगे। कितने ढेर बच्चे हैं। उस पढ़ाई में कोई बड़े आदमी के बच्चे होते हैं तो उन्हों को स्पेशल पढ़ाते हैं। टीचर जानते हैं कि यह डल है इसलिए उनको स्कालरशिप लायक बनाते हैं। यह बाप ऐसे नहीं करते हैं। यह तो एकरस सबको पढ़ाते हैं। वह हुआ टीचर का एक्स्ट्रा पुरुषार्थ कराना। यह तो एक्स्ट्रा पुरुषार्थ किसको अलग से कराते नहीं। एक्स्ट्रा पुरुषार्थ माना ही मास्टर कुछ कृपा करते हैं। ऐसे तो भल पैसे लेते हैं, खास टाइम दे पढ़ाते हैं जिससे वह जास्ती पढ़कर होशियार होते हैं। यहाँ तो जास्ती कुछ पढ़ने की बात है ही नहीं। इनकी तो बात ही नई है। एक ही महामन्त्र देते हैं – “मनमनाभव”। याद से क्या होता है, यह तो समझते हो बाप ही पतित-पावन है। जानते हो उनको याद करने से ही पावन बनेंगे।

अब तुम बच्चों को ज्ञान है, जितना याद करेंगे उतना पावन बनेंगे। कम याद करेंगे तो कम पावन बनेंगे। यह तुम बच्चों के पुरुषार्थ पर है। बेहद के बाप को याद करने से हमको यह (लक्ष्मी-नारायण) बनना है। उन्हों की महिमा तो हर एक जानते हैं। कहते भी हैं आप पुण्य आत्मा हो, हम पाप आत्मा हैं। ढेर मन्दिर बने हुए हैं। वहाँ सब क्या करने जाते हैं? दर्शन से फ़ायदा तो कुछ भी नहीं। एक-दो को देख चले जाते हैं। बस दर्शन करने जाते हैं। फलाना यात्रा पर जाता है, हम भी जावें। इससे क्या होगा? कुछ भी नहीं। तुम बच्चों ने भी यात्राएं की हैं। जैसे और त्योहार मनाते हैं, वैसे यात्रा भी एक त्योहार समझते हैं। अभी तुम याद की यात्रा भी एक त्योहार समझते हो। तुम याद की यात्रा में रहते हो। अक्षर ही एक है मनमनाभव। यह तुम्हारी यात्रा अनादि है। वह भी कहते हैं – वह यात्रा हम अनादि करते आए हैं। परन्तु तुम अभी ज्ञान सहित कहते हो हम कल्प-कल्प यह यात्रा करते हैं। बाप ही आकर यह यात्रा सिखलाते हैं। वह चारों धाम जन्म बाय जन्म यात्रा करते हैं। यह तो बेहद का बाप कहते हैं – मुझे याद करो तो तुम पावन बन जायेंगे। ऐसे तो और कोई कभी नहीं कहते कि यात्रा से तुम पावन बनेंगे। मनुष्य यात्रा पर जाते हैं तो वह उस समय पावन रहते हैं, आजकल तो वहाँ भी गन्द लगा पड़ा है, पावन नहीं रहते। इस रूहानी यात्रा का तो किसको पता नहीं है। तुमको अभी बाप ने बताया है – यह याद की यात्रा है सच्ची। वह यात्रा का चक्र लगाने जाते हैं फिर भी वैसे का वैसा बन जाते हैं। चक्र लगाते रहते हैं। जैसे वास्कोडिगामा ने सृष्टि का चक्र लगाया। यह भी चक्र लगाते हैं ना। गीत भी है ना – चारों तरफ लगाये फेरे….. फिर भी हरदम दूर रहे। भक्तिमार्ग में तो कोई मिला नहीं सकते। भगवान कोई को मिला नहीं। भगवान से दूर ही रहे। फेरे लगाकर फिर भी घर में आकर 5 विकारों में फंसते हैं। वह सब यात्रायें हैं झूठी। अभी तुम बच्चे जानते हो यह है पुरुषोत्तम संगमयुग, जबकि बाप आये हैं। एक दिन सब जान जायेंगे बाप आया हुआ है। भगवान आखरीन मिलेगा, लेकिन कैसे? यह तो कोई भी जानते नहीं। यह तो मीठे-मीठे बच्चे जानते हैं कि हम श्रीमत पर इस भारत को फिर से स्वर्ग बना रहे हैं। भारत का ही तुम नाम लेंगे। उस समय और कोई धर्म होता नहीं। सारी विश्व पवित्र बन जाती है। अभी तो ढेर धर्म हैं। बाप आकर तुमको सारे झाड़ का नॉलेज सुनाते हैं। तुमको स्मृति दिलाते हैं। तुम सो देवता थे, फिर सो क्षत्रिय, सो वैश्य, सो शूद्र बने। अभी तुम सो ब्राह्मण बने हो। यह हम सो का अर्थ बाप कितना सहज समझाते हैं। ओम् अर्थात् मैं आत्मा फिर हम आत्मा ऐसे चक्र लगाती हैं। वह तो कह देते हम आत्मा सो परमात्मा, परमात्मा सो हम आत्मा। एक भी नहीं जिसको हम सो का अर्थ यथार्थ मालूम हो। तो बाप कहते हैं यह जो मन्त्र है यह हरदम याद रखना चाहिए। चक्र बुद्धि में नहीं होगा तो चक्रवर्ती राजा कैसे बनेंगे? अभी हम आत्मा ब्राह्मण हैं, फिर हम सो देवता बनेंगे। यह तुम कोई से भी जाकर पूछो, कोई नहीं बतायेंगे। वह तो 84 का अर्थ भी नहीं समझते। भारत का उत्थान और पतन गाया हुआ है। यह ठीक है। सतोप्रधान, सतो, रजो, तमो, सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी, वैश्यवंशी…. अभी तुम बच्चों को सब मालूम पड़ गया है। बीजरूप बाप को ही ज्ञान का सागर कहा जाता है। वह इस चक्र में नहीं आते हैं। ऐसे नहीं, हम जीव आत्मा सो परमात्मा बन जाते हैं। नहीं, बाप आपसमान नॉलेजफुल बनाते हैं। आप समान गॉड नहीं बनाते हैं। इन बातों को बहुत अच्छी रीति समझना है, तब बुद्धि में चक्र चल सकता है, जिसका नाम स्वदर्शन चक्र रखा है। तुम बुद्धि से समझ सकते हो – हम कैसे इस 84 के चक्र में आते हैं। इसमें सब आ जाता है। समय भी आता है, वर्ण भी आ जाते हैं, वंशावली भी आ जाती है।

अब तुम बच्चों की बुद्धि में यह सारा ज्ञान होना चाहिए। नॉलेज से ही ऊंच पद मिलता है। नॉलेज होगी तो औरों को भी देंगे। यहाँ तुमसे कोई पेपर आदि नहीं भराये जाते हैं। उन स्कूलों में जब इम्तहान होते हैं तो पेपर्स विलायत से आते हैं। जो विलायत में पढ़ते होंगे उन्हों की तो वहाँ ही रिजल्ट निकालते होंगे। उनमें भी कोई बड़ा एज्युकेशन अथॉरिटी होगा जो जांच करते होंगे पेपर्स की। तुम्हारे पेपर्स की जांच कौन करेंगे? तुम खुद ही करेंगे। खुद को जो चाहो सो बनाओ। पुरुषार्थ से जो चाहे सो पद बाप से ले लो। प्रदर्शनी आदि में बच्चे पूछते हैं ना – क्या बनेंगे? देवता बनेंगे, बैरिस्टर बनेंगे…. क्या बनेंगे? जितना बाप को याद करेंगे, सर्विस करेंगे उतना फल मिलेगा। जो अच्छी रीति बाप को याद करते हैं वह समझते हैं हमको सर्विस भी करनी है। प्रजा बनानी है ना! यह राजधानी स्थापन हो रही है। तो उसमें सब चाहिए। वहाँ वजीर होते नहीं। वजीर की दरकार उनको रहती जिसको अक्ल कम होता है। तुमको वहाँ राय की दरकार नहीं रहती है। बाबा के पास राय लेने आते हैं – स्थूल बातों की राय लेते हैं, पैसे का क्या करें? धन्धा कैसे करें? बाबा कहते हैं यह दुनियावी बातें बाप के पास नहीं ले आओ। हाँ, कहाँ दिलशिकस्त बन न जाएं तो कुछ न कुछ आथत देकर बता देते हैं। यह कोई मेरा धन्धा नहीं है। मेरा तो ईश्वरीय धन्धा है तुमको रास्ता बताने का। तुम विश्व का मालिक कैसे बनो? तुमको मिली है श्रीमत। बाकी सब हैं आसुरी मत। सतयुग में कहेंगे श्रीमत। कलियुग में आसुरी मत। वह है ही सुखधाम। वहाँ ऐसे भी नहीं कहेंगे कि राजी-खुशी हो? तबियत ठीक है? यह अक्षर वहाँ होते नहीं। यह यहाँ पूछा जाता है। कोई तकलीफ तो नहीं है? राजी-खुशी हो? इसमें भी बहुत बातें आ जाती हैं। वहाँ दु:ख है ही नहीं, जो पूछा जाए। यह है ही दु:ख की दुनिया। वास्तव में तुमसे कोई पूछ नहीं सकता। भल माया गिराने वाली है तो भी बाप मिला है ना। तुम कहेंगे – क्या तुम खुश-खैराफत पूछते हो! हम ईश्वर के बच्चे हैं, हमसे क्या खुश-खैराफत पूछते हो। परवाह थी पार ब्रह्म में रहने वाले बाप की, वह मिल गया, फिर किसकी परवाह! यह हमेशा याद करना चाहिए – हम किसके बच्चे हैं! यह भी बुद्धि में ज्ञान है – कि जब हम पावन बन जायेंगे तो फिर लड़ाई शुरू हो जायेगी। तो जब भी तुमसे कोई पूछे कि तुम खुश राज़ी हो? तो बोलो हम तो सदैव खुशराज़ी हैं। बीमार भी हो तो भी बाप की याद में हो। तुम स्वर्ग से भी जास्ती यहाँ खुश-राज़ी हो। जबकि स्वर्ग की बादशाही देने वाला बाप मिला है, जो हमको इतना लायक बनाते हैं तो हमको क्या परवाह रखी है! ईश्वर के बच्चों को क्या परवाह! वहाँ देवताओं को भी परवाह नहीं। देवताओं के ऊपर तो है ईश्वर। तो ईश्वर के बच्चों को क्या परवाह हो सकती है। बाबा हमको पढ़ाते हैं। बाबा हमारा टीचर, सतगुरू है। बाबा हमारे ऊपर ताज रख रहे हैं, हम ताजधारी बन रहे हैं। तुम जानते हो हमको विश्व का ताज कैसे मिलता है। बाप नहीं ताज रखते। यह भी तुम जानते हो सतयुग में बाप अपना ताज अपने बच्चों पर रखते हैं, जिसको अंग्रेजी में कहते हैं क्राउन प्रिन्स। यहाँ जब तक बाप का ताज बच्चे को मिले तब तक बच्चे को उत्कण्ठा रहेगी – कहाँ बाप मरे तो ताज हमारे सिर पर आवे। आश होगी प्रिन्स से महाराजा बनूँ। वहाँ तो ऐसी बात नहीं होती। अपने समय पर कायदे अनुसार बाप बच्चों को ताज देकर फिर किनारा कर लेते हैं। वहाँ वानप्रस्थ की चर्चा होती नहीं। बच्चों को महल आदि बनाकर देते हैं, आशायें सब पूरी हो जाती हैं। तुम समझ सकते हो सतयुग में सुख ही सुख है। प्रैक्टिकल में सब सुख तब पायेंगे जब वहाँ जायेंगे। वह तो तुम ही जानो, स्वर्ग में क्या होगा? एक शरीर छोड़ फिर कहाँ जायेंगे? अभी तुम्हें प्रैक्टिकल में बाप पढ़ा रहे हैं। तुम जानते हो हम सच-सच स्वर्ग में जायेंगे। वह तो कह देते हम स्वर्ग में जाते हैं, पता भी नहीं है स्वर्ग किसको कहा जाता है। जन्म-जन्मान्तर यह अज्ञान की बातें सुनते आये, अभी बाप तुमको सत्य बातें सुनाते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सदा राज़ी-खुशी रहने के लिए बाप की याद में रहना है। पढ़ाई से अपने ऊपर राजाई का ताज रखना है।

2) श्रीमत पर भारत को स्वर्ग बनाने की सेवा करनी है। सदा श्रीमत का रिगार्ड रखना है।

वरदान:- कनेक्शन और रिलेशन द्वारा मन्सा शक्ति के प्रत्यक्ष प्रमाण देखने वाले सूक्ष्म सेवाधारी भव
जैसे वाणी की शक्ति वा कर्म की शक्ति का प्रत्यक्ष प्रमाण दिखाई देता है वैसे सबसे पावरफुल साइलेन्स शक्ति का प्रत्यक्ष प्रमाण देखने के लिए बापदादा के साथ निरन्तर क्लीयर कनेक्शन और रिलेशन हो, इसे ही योगबल कहा जाता है। ऐसी योगबल वाली आत्मायें स्थूल में दूर रहने वाली आत्मा को सम्मुख का अनुभव करा सकती हैं। आत्माओं का आह्वान कर उन्हें परिवर्तन कर सकती हैं। यही सूक्ष्म सेवा है, इसके लिए एकाग्रता की शक्ति को बढ़ाओ।
स्लोगन:- अपने सर्व खजानों को सफल करने वाले ही महादानी आत्मा हैं।

TODAY MURLI 2 JANUARY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 2 January 2020

02/01/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, your vision should not fall on anyone’s body. Consider yourself to be a soul and don’t look at anyone’s body.
Question: To which two special aspects should each of you Brahmin children pay attention?
Answer: The study and divine virtues. Whereas some children don’t have the slightest anger, others have so much anger that they fight a great deal. You children should be concerned about imbibing divine virtues and becoming deities. Do not speak angrily to anyone. Baba says: The children who have anger within them are like lords and ladies of evil spirits. You must not talk to anyone who has such evil spirits.
Song: I have come with my fortune awakened.

Om shanti. You children heard the song. The meanings of such records are not explained at any other gathering. They simply read the scriptures there. In the Sikh temples, those who read the Granth take two lines from it and then expand on those. Nowhere else is the record they play explained. The Father now explains: All of those songs belong to the path of devotion. You children have been told that knowledge is separate from devotion and can only be given by incorporeal Shiva. This knowledge is called spiritual knowledge. There are varieties of knowledge. Someone may ask you whether you know how this carpet is made. There is knowledge of everything. All of those are physical things. You children know that there is only the one spiritual Father of us souls and that it is not possible to see His form. The image of that incorporeal Being is like a saligram. He is called the Supreme Soul. He is called the Incorporeal. He doesn’t have a human form. Everything definitely has a form and the tiniest form is that of a soul. That is called the wonder of nature. A soul is so tiny that it cannot be seen with these eyes. You children have now been given divine vision with which you have visions of everything. You can see with divine vision those who existed in the past. That one became the past first of all. He has now come again and so you also have a vision of Him. He is very subtle. From this, it can be understood that no one but the Supreme Father, the Supreme Soul, can give the knowledge of souls. People do not know souls accurately. In the same way, they cannot know the Supreme Soul accurately. People in the world have innumerable opinions. Some say that souls merge into the Supreme Soul and others say something else. You children now understand, numberwise, according to the efforts you make. This cannot sit in everyone’s intellect to the same extent. You repeatedly have to make this sit in your intellect. We are souls and we play our parts of 84 births. The Father now says: Consider yourselves to be souls, know Me, the Supreme Father, the Supreme Soul, and remember Me. The Father says: I enter this one and give knowledge to you children. Because you children don’t consider yourselves to be souls, your vision goes towards this body. In fact, you do not have anything to do with this one. The Bestower of Salvation for All is Shiv Baba and we give happiness to everyone according to His directions. This one has no arrogance about giving happiness to everyone. Those who do not remember the Father accurately cannot have their defects removed. They do not have the faith that they are souls. People neither know about souls nor the Supreme Soul. It was the people of Bharat who spread the idea of omnipresence around. The serviceable children amongst you understand this, but the rest of you don’t understand as much. If you children recognised the Father accurately and fully you would remember Him and also imbibe divine virtues. Shiv Baba explains this to you children. This is a new aspect. Brahmins are definitely needed. No one in the world knows the period when the children of Prajapita Brahma exist. There are many physical brahmins, but that progeny are born from wombs. They are not mouth-born progeny, the children of Brahma. The children of Brahma receive an inheritance from God, the Father. You are now receiving that inheritance. You Brahmins are separate from those brahmins. You Brahmins exist at the confluence age whereas those brahmins exist in the copper and iron ages. You confluence-aged Brahmins are totally separate. Prajapita Brahma has many children. A physical father is also called Brahma because he creates children, but that is a matter connected with the body. This Father (Shiva) would say: All souls are My children. You are the sweetest, spiritual children. It is easy to explain this to anyone. Shiv Baba doesn’t have a body of His own. People celebrate the birthday of Shiva, but He doesn’t have a body which you could see. Everyone else has a body. All souls have their own bodies. It is the body that is given a name. The Supreme Soul doesn’t have a body of His own and this is why He is called the Supreme Soul. That soul is called Shiva; that name never changes. When someone changes his body, the name also changes. Shiv Baba says: I am constantly the incorporeal Supreme Soul. According to the dramaplan, I have now taken this body. Even the names of sannyasis change. When someone belongs to a guru, his name is changed. You also used to have your names changed, but for how long would Baba continue to change everyone’s name? So many ran away. Those who were here at that time had their names changed. No one’s name is changed now. You cannot trust anyone. Maya defeats many and so they run away. This is why Baba doesn’t give a new name to anyone. It is not good if He gives a name to one and not to another. Although you all say: Baba, we now belong to You, you do not belong to Baba accurately. Many of you don’t understand the meaning of becoming an heir. Many come to meet Baba, but they are not heirs. They’re unable to enter the rosary of victory. Some good children consider themselves to be heirs, but Baba knows that they are not heirs. In order to become an heir, you first have to make God your Heir. It is difficult to explain these secrets. Baba explains to you children what it means to be an heir. When you make God your Heir, you have to give all of your property. Then the Father would make you His heir. Only the poor can do this; the rich are unable to give their property. The rosary is created from only a few children. If you were to ask Baba, Baba could tell you whether or not you have a right to become an heir. That Baba, as well as this Baba, could tell you. This is a common aspect to understand. You need wisdom in order to become an heir. You can see that Lakshmi and Narayan were the masters of the world, but no one knows how they claimed that mastership. Your aim and objective is now in front of you. That is what you have to become. You children say that you will become the sun-dynasty Lakshmi or Narayan, not the moon-dynasty Rama or Sita. Rama and Sita are defamed in the scriptures. You would never hear any defamation of Lakshmi and Narayan. There is defamation of Shiv Baba and of Krishna. The Father says: I make you children the most elevated of all. You children become even higher than I am. No one would ever defame Lakshmi or Narayan. Although the Krishna soul is the same as the Narayan one, because people do not know this, they have defamed him. They build a temple to Lakshmi and Narayan with a lot of happiness. In fact, the temple they build should be to Radhe and Krishna because they were satopradhan. These (Lakshmi and Narayan) are in their adult stage and so they are called sato, whereas those (Radhe and Krishna) are young and so they are called satopradhan. A small child is equal to a mahatma. Just as little children do not know what vice etc. is, in the same way, the adults there have no knowledge of what vice is. These five evil spirits do not exist there. They know nothing about vices. At present it is the night. Only at night is there the desire for lust. Deities exist in the day and so there is no desire for lust there. There are no vices there. Now that it is the night, everyone indulges in vice. You know that all your vices will end as soon as the morning comes. You will then not know what vices are. They are Ravan’s vicious traits. This is the vicious world. In the viceless world, there is no question of vice. That is called God’s kingdom. At present it is the devil’s kingdom, but no one knows that. You now know everything, numberwise, according to the effort you make. There are many of you children. People are unable to understand whose children you Brahma Kumars and Kumaris are. They all remember Shiv Baba. They do not remember Brahma. This one also says: Remember Shiv Baba through whom all your sins will be absolved. Your sins will not be absolved by remembering anyone else. It is written in the Gita: Constantly remember Me alone! Krishna didn’t say this. You receive the inheritance from the incorporeal Father. Only when you consider yourselves to be souls will you be able to remember the incorporeal Father. First of all, have the firm faith that you are souls and that your Father is the Supreme Soul. He says: Remember Me and I will give you your inheritance. I am the Bestower of Happiness for All. I take all souls back to the land of peace. Those who claimed the inheritance from the Father in the previous cycle will come and become Brahmins and claim the inheritance again. Amongst Brahmins too, some are very firm children; there are real children and there are stepchildren. We are genealogical tree of the children of incorporeal Shiva. You know how the genealogical tree grows. Now, having become Brahmins, we have to return home. All souls have to leave their bodies and return home. Both the Pandavas and the Kauravas have to leave their bodies. You take the sanskars of knowledge and the reward you receive is according to those. That too is fixed in the drama; the part of knowledge in the drama then comes to an end. Now, after taking 84 births, you are receiving this knowledge again. This knowledge will then disappear and you will experience your reward. There aren’t pictures etc. of any other religions there. You have pictures on the path of devotion. There aren’t anyone’s pictures in the golden age. Your pictures exist throughout the path of devotion. In your kingdom, there aren’t any other pictures. There are only the deities at that time. You can understand from this that the deities are the original and eternal ones. The world continues to grow afterwards. You children should churn this knowledge and remain in supersensuous joy. There are many points to churn. However, Baba knows that Maya makes you repeatedly forget. You have to remember that Shiv Baba is teaching you. He is the Highest on High. We now have to return home. These things are so easy! Everything depends on remembrance. We have to imbibe divine virtues and become deities. The five vices are evil spirits. There are the evil spirits of lust, anger and body consciousness. Yes, some have more evil spirits than others. You Brahmin children know that these five vices are big evil spirits. The number one evil spirit is lust. The second is anger. When someone speaks in a rough way, the Father says that that one has anger in him. That evil spirit has to be removed. It is very difficult to remove an evil spirit. Anger gives sorrow to one another. Not as many people experience sorrow through attachment; those who do have attachment only experience sorrow. This is why the Father says: Chase those evil spirits away! Each of you children should pay special attention to this study and to divine virtues. Some children don’t have the slightest trace of anger, whereas others fight a great deal due to anger. You children should think about imbibing divine virtues and becoming deities. Never speak in anger. When someone becomes angry, understand that that person has an evil spirit of anger in him. It is as though they become lords and ladies of evil spirits. Never talk to those who have such evil spirits. When someone speaks in anger and the evil spirit also enters the other one, the two evil spirits then fight each other. The expression “Lady of evil spirits” (bhootnathni) is very dirty. You should stay away from such a person so that that evil spirit doesn’t enter you. Don’t remain standing in front of an evil spirit or it will enter you. The Father comes to enable you to remove your devilish traits and to imbibe divine virtues. The Father says: I have come to make you imbibe divine virtues and to make you into deities. You children know that you are imbibing divine virtues. The images of the deities are in front of you. Baba has told you to stay completely away from those who have anger. You need wisdom to protect yourself. There shouldn’t be any anger inside you. Otherwise, your sin will multiply one hundred-fold. The Father explains very clearly to you children. You children also understand that Baba is teaching you exactly as He did in the previous cycle. You children will continue to understand, numberwise, according to the efforts you make. Have mercy for yourself and also for others. Some have mercy for others but none for themselves. The others then climb high whilst they themselves remain behind. They themselves do not conquer the vices, but they explain to others. So the others then conquer the vices. There are such wonders! Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and Good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Churn the knowledge and remain in supersensuous joy. Do not talk to anyone in a rough way. Move away from anyone who speaks to you in anger.
  2. In order to become an heir of God, first make Him your Heir. Become sensible and finish all your attachment by giving everything that belongs to you to the Father. Have mercy for yourself.
Blessing: May you be happy hearted and constantly follow the one Father with your stable and constant stage.
For you children, Father Brahma’s life is an accurate computer. People nowadays put all their questions to a computer and receive an answer. In the same way, whenever a question arises, then, instead of asking “Why?” or “What?” just look at the computer of Father Brahma’s life. The questions of “Why?” and “What?” will change into “In this way”. Instead of being full of questions, you will become happy hearted. To be happy hearted means to follow the Father with your constant and stable stage.
Slogan: With your soul-conscious power, experience being always healthy.

*** Om Shanti ***

Special homework to experience the avyakt stage in this avyakt month.

Even while you are performing an ordinary action, pay attention every now and again to creating an avyakt stage. When you perform any task, always perform it with double force, considering BapDada to be your Companion and there will then be easy remembrance. While making a programme for physical activities, also set a programme for your intellect and time will then be saved.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 2 JANUARY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 2 January 2020

02-01-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हारी नज़र शरीरों पर नहीं जानी चाहिए, अपने को आत्मा समझो, शरीरों को मत देखो”
प्रश्नः- हर एक ब्राह्मण बच्चे को विशेष किन दो बातों पर ध्यान देना है?
उत्तर:- 1- पढ़ाई पर, 2- दैवी गुणों पर। कई बच्चों में क्रोध का अंश भी नहीं है, कोई तो क्रोध में आकर बहुत लड़ते हैं। बच्चों को ख्याल करना चाहिए कि हमको दैवीगुण धारण करके देवता बनना है। कभी गुस्से में आकर बातचीत नहीं करनी चाहिए। बाबा कहते किसी बच्चे में क्रोध है तो वह भूतनाथ-भूतनाथिनी है। ऐसे भूत वालों से तुम्हें बात भी नहीं करनी है।
गीत:- तकदीर जगाकर आई हूँ…….. .

ओम् शान्ति। बच्चों ने गीत सुना। और कोई भी सतसंग में कभी रिकॉर्ड पर नहीं समझाते हैं। वहाँ शास्त्र सुनाते हैं। जैसे गुरूद्वारे में ग्रंथ का दो वचन निकालते हैं फिर कथा करने वाला बैठ उनका विस्तार करते हैं। रिकॉर्ड पर कोई समझाये, यह कहाँ होता नहीं है। अब बाप समझाते हैं कि यह सब गीत हैं भक्ति मार्ग के। बच्चों को समझाया गया है, ज्ञान अलग चीज़ है, जो एक निराकार शिव से मिल सकता है। इसको कहा जाता है रूहानी ज्ञान। ज्ञान तो बहुत प्रकार के होते हैं ना। कोई से पूछा जायेगा यह गलीचा कैसे बनता है, तुमको ज्ञान है? हर चीज़ का ज्ञान होता है। वह हैं ही जिस्मानी बातें। बच्चे जानते हैं हम आत्माओं का रूहानी बाप वह एक है, उनका रूप दिखाई नहीं पड़ता है। उस निराकार का चित्र भी है सालिग्राम मिसल। उनको ही परमात्मा कहते हैं। उनको कहा ही जाता है निराकार। मनुष्य जैसा आकार नहीं है। हर वस्तु का आकार जरूर होता है। उन सबमें छोटे में छोटा आकार है आत्मा का। उनको कुदरत ही कहेंगे। आत्मा बहुत छोटी है जो इन आखों से देखने में नहीं आती। तुम बच्चों को दिव्य दृष्टि मिलती है जिससे सब साक्षात्कार करते हो। जो पास्ट हो गये हैं उनको दिव्य दृष्टि से देखा जाता है। पहले नम्बर में तो यह पास्ट हो गया है। अब फिर आये हैं तो उनका भी साक्षात्कार होता है। है बहुत सूक्ष्म। इससे समझ सकते हैं, सिवाए परमपिता परमात्मा के आत्मा का ज्ञान कोई दे नहीं सकता। मनुष्य, आत्मा को यथार्थ रीति नहीं जानते वैसे परमात्मा को भी यथार्थ रीति नहीं जान सकते। दुनिया में मनुष्यों की अनेक मत हैं। कोई कहते आत्मा परमात्मा में लीन हो जाती, कोई क्या कहते। अभी तुम बच्चों ने जाना है, सो भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार, सबकी बुद्धि में एकरस तो बैठ नहीं सकता। घड़ी-घड़ी बुद्धि में भी बिठाना होता है। हम आत्मा हैं, आत्मा को ही 84 जन्मों का पार्ट बजाना है। अब बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझ मुझ परमपिता परमात्मा को जानों और याद करो। बाप कहते हैं मैं इनमें प्रवेश कर तुम बच्चों को नॉलेज देता हूँ। तुम बच्चे अपने को आत्मा नहीं समझते हो इसलिए तुम्हारी नज़र इस शरीर पर चली जाती है। वास्तव में तुम्हारा इनसे कोई काम नहीं है। सर्व का सद्गति दाता तो वह शिवबाबा है, उनकी मत पर हम सबको सुख देते हैं। इनको भी अहंकार नहीं आता कि हम सबको सुख देते हैं। जो बाप को पूरा याद नहीं करते हैं उनसे अवगुण निकलते नहीं हैं। अपने को आत्मा निश्चय नहीं करते हैं। मनुष्य तो न आत्मा को, न परमात्मा को जानते हैं। सर्वव्यापी का ज्ञान भी भारतवासियों ने फैलाया है। तुम्हारे में भी जो सर्विसएबुल बच्चे हैं वह समझते हैं, बाकी सब इतना नहीं समझते हैं। अगर बाप की पूरी पहचान बच्चों को हो तो बाप को याद करें, अपने में दैवीगुण धारण करें।

शिवबाबा तुम बच्चों को समझाते हैं। यह हैं नई बातें। ब्राह्मण भी जरूर चाहिए। प्रजापिता ब्रह्मा की सन्तान कब होते हैं, यह दुनिया में किसको पता नहीं है। ब्राह्मण तो ढेर के ढेर हैं। परन्तु वह हैं कुख वंशावली। वह कोई मुख वंशावली ब्रह्मा की सन्तान नहीं हैं। ब्रह्मा की सन्तान को तो ईश्वर बाप से वर्सा मिलता है। तुमको अब वर्सा मिल रहा है ना। तुम ब्राह्मण अलग हो, वो अलग हैं। तुम ब्राह्मण होते ही हो संगम पर, वह होते हैं द्वापर-कलियुग में। यह संगमयुगी ब्राह्मण ही अलग हैं। प्रजापिता ब्रह्मा के ढेर बच्चे हैं। भल हद के बाप को भी ब्रह्मा कहेंगे क्योंकि बच्चे पैदा करते हैं। परन्तु वह है जिस्म की बात। यह बाप तो कहेंगे सब आत्मायें हमारे बच्चे हैं। तुम हो मीठे-मीठे रूहानी बच्चे। यह किसको समझाना सहज है। शिवबाबा को अपना शरीर नहीं है। शिव जयन्ती मनाते हैं, परन्तु उनका शरीर देखने में नहीं आता। बाकी और सबका शरीर है। सब आत्माओं का अपना-अपना शरीर है। शरीर का नाम पड़ता है, परमात्मा का अपना शरीर ही नहीं इसलिए उनको परम आत्मा कहा जाता है। उनकी आत्मा का ही नाम शिव है। वह कभी बदलता नहीं। शरीर बदलते हैं तो नाम भी बदल जाते हैं। शिवबाबा कहते हैं मैं तो सदैव निराकार परम आत्मा ही हूँ। ड्रामा के प्लैन अनुसार अभी यह शरीर लिया है। सन्यासियों का भी नाम बदलता है। गुरू का बनते हैं तो नाम बदलता है। तुम्हारे भी नाम बदले थे। परन्तु कहाँ तक नाम बदलते रहेंगे। कितने भागन्ती हो गये। जो उस समय थे उनका नाम रख दिया। अब नाम नहीं रखते हैं। किस पर भी विश्वास नहीं है। माया बहुतों को हरा देती है तो भागन्ती हो जाते हैं इसलिए बाबा किसका भी नाम नहीं रखते हैं। किसका रखें, किसका न रखें, वह भी ठीक नहीं। कहते तो सब हैं-बाबा, हम आपके हो चुके हैं, परन्तु यथार्थ रीति हमारे होते थोड़ेही हैं। बहुत हैं जो वारिस बनने के राज़ को भी नहीं जानते हैं। बाबा के पास मिलने आते हैं परन्तु वारिस नहीं हैं। विजय माला में नहीं आ सकते। कोई अच्छे-अच्छे बच्चे समझते हैं हम तो वारिस हैं। परन्तु बाबा समझते हैं यह वारिस है नहीं। वारिस बनने के लिए भगवान को अपना वारिस बनाना पड़े, यह राज़ समझाना भी मुश्किल है। बाबा समझाते हैं वारिस किसको कहा जाता है। भगवान को कोई वारिस बनाये तो मिलकियत देनी पड़े। तो बाप फिर वारिस बनाये। मिलकियत तो सिवाए गरीबों के कोई साहूकार दे न सके। माला कितनी थोड़ों की बनती है। यह भी कोई बाबा से पूछे तो बाबा बता सकते हैं-तुम वारिस बनने के हकदार हो वा नहीं? यह बाबा भी बता सकते हैं। यह कॉमन बात है समझने की। वारिस बनने में भी बहुत अक्ल चाहिए। देखते हैं लक्ष्मी-नारायण विश्व के मालिक थे, परन्तु वह मालिकपना कैसे लिया-यह कोई नहीं जानते। अभी तुम्हारी एम ऑब्जेक्ट तो सामने है। तुमको यह बनना है। बच्चे भी कहते हैं हम तो सूर्यवंशी लक्ष्मी-नारायण बनेंगे, न कि चन्द्रवंशी राम-सीता। राम-सीता की भी शास्त्रों में निंदा की हुई है। लक्ष्मी-नारायण की कभी निंदा नहीं सुनेंगे। शिवबाबा की, कृष्ण की भी निंदा है। बाप कहते हैं मैं तुम बच्चों को इतना ऊंच ते ऊंच बनाता हूँ। मेरे से भी बच्चे तीखे चले जाते हैं। लक्ष्मी-नारायण की भी कोई निंदा नहीं करेंगे। भल कृष्ण की आत्मा तो वही है, परन्तु न जानने कारण निंदा कर दी है। लक्ष्मी-नारायण का मन्दिर भी बड़ा खुशी से बनाते हैं। वास्तव में बनाना चाहिए राधे-कृष्ण का, क्योंकि वह सतोप्रधान है। यह उन्हों की युवा अवस्था है तो उनको सतो कहते हैं। वह छोटे हैं इसलिए सतोप्रधान कहेंगे। छोटा बच्चा महात्मा समान होता है। जैसे छोटे बच्चों को विकार आदि का पता नहीं रहता, वैसे वहाँ बड़ों को भी पता नहीं रहता कि विकार क्या चीज़ है। यह 5 भूत वहाँ होते ही नहीं। विकारों का जैसेकि पता ही नहीं है। इस समय है ही रात। काम की चेष्ठा भी रात को ही होती है। देवतायें हैं दिन में तो काम की चेष्ठा होती नहीं। विकार कोई होते नहीं। अभी रात में सब विकारी हैं। तुम जानते हो दिन होते ही हमारे सब विकार चले जायेंगे। पता नहीं रहता कि विकार क्या चीज़ हैं। यह रावण के विकारी गुण हैं। यह है विशश वर्ल्ड। वाइसलेस वर्ल्ड में विकार की कोई बात नहीं होती। उनको कहा ही जाता है ईश्वरीय राज्य। अभी है आसुरी राज्य। यह कोई नहीं जानते। तुम सब कुछ जानते हो, नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार। ढेर बच्चे हैं। कोई भी मनुष्य समझ नहीं सकते कि यह सब बी.के. किसके बच्चे हैं।

सब याद करते हैं-शिवबाबा को, ब्रह्मा को भी नहीं। यह खुद कहते हैं शिवबाबा को याद करो, जिससे विकर्म विनाश होंगे, और कोई को भी याद करने से विकर्म विनाश नहीं होंगे। गीता में भी कहा है मामेकम् याद करो। कृष्ण तो कह न सकें। वर्सा मिलता ही है निराकार बाप से। अपने को जब आत्मा समझें तब निराकार बाप को याद करें। मैं आत्मा हूँ, पहले यह पक्का निश्चय करना पड़े। मेरा बाप परमात्मा है, वह कहते हैं मुझे याद करो तो मैं तुमको वर्सा दूँगा। मैं सबको सुख देने वाला हूँ। मैं सभी आत्माओं को शान्तिधाम ले जाता हूँ। जिन्होंने कल्प पहले बाप से वर्सा लिया होगा वही आकर वर्सा लेंगे, ब्राह्मण बनेंगे। ब्राह्मणों में भी कुछ बच्चे पक्के हैं। मातेले भी बनेंगे, सौतेले भी बनेंगे। हम निराकार शिवबाबा की वंशावली हैं। जानते हैं बिरादरी कैसे बढ़ती जाती है। अभी ब्राह्मण बनने के बाद हमको वापिस जाना है। सब आत्मायें शरीर छोड़कर वापिस जानी हैं। पाण्डव और कौरव दोनों को शरीर छोड़ना है। तुम यह ज्ञान के संस्कार ले जाते हो फिर उस अनुसार प्रालब्ध मिलती है। वह भी ड्रामा में नूंध है फिर ज्ञान का पार्ट खत्म हो जाता है। तुमको 84 जन्मों के बाद फिर ज्ञान मिला है। फिर यह ज्ञान प्राय: लोप हो जाता है। तुम प्रालब्ध भोगते हो। वहाँ और कोई धर्म वालों के चित्र आदि नहीं रहते। तुम्हारे भक्तिमार्ग में भी चित्र रहते हैं। सतयुग में किसका चित्र आदि नहीं रहता। तुम्हारे चित्र आलराउन्ड भक्ति मार्ग में रहते हैं। तुम्हारे राज्य में और कोई का चित्र नहीं है, सिर्फ देवी-देवता ही रहते हैं। इससे ही समझते हैं आदि सनातन देवी-देवता ही हैं। पीछे सृष्टि बढ़ती जाती है। तुम बच्चों को यह ज्ञान सिमरण कर अतीन्द्रिय सुख में रहना है। बहुत प्वाइंट्स हैं। परन्तु बाबा समझते हैं माया घड़ी-घड़ी भुला देती है। तो यह याद रहना चाहिए कि शिवबाबा हमको पढ़ा रहे हैं। वह है ऊंच ते ऊंच। हमको अब वापस घर जाना है। कितनी सहज बातें हैं। सारा मदार है याद पर। हमको देवता बनना है। दैवी गुण भी धारण करने हैं। 5 विकार हैं भूत। काम का भूत, क्रोध का भूत, देह-अभिमान का भूत भी होता है। हाँ, कोई में जास्ती भूत होते हैं, कोई में कम। तुम ब्राह्मण बच्चों को पता है यह 5 बड़े भूत हैं। नम्बरवन है काम का भूत, सेकण्ड नम्बर है क्रोध का भूत। कोई रफढफ बोलता है तो बाप कहते हैं यह क्रोधी है। यह भूत निकल जाना चाहिए। परन्तु भूत निकलना बड़ा मुश्किल है। क्रोध एक-दो को दु:ख देता है। मोह में बहुतों को दु:ख नहीं होगा। जिसको मोह है उनको ही दु:ख होगा इसलिए बाप समझाते हैं इन भूतों को भगाओ।

हर बच्चे को विशेष पढ़ाई और दैवीगुणों पर अटेन्शन देना है। कई बच्चों में तो क्रोध का अंश भी नहीं है। कोई तो क्रोध में आकर बहुत लड़ते हैं। बच्चों को ख्याल करना चाहिए हमको दैवीगुण धारण कर देवता बनना है। कभी गुस्से से बात नहीं करनी चाहिए। कोई गुस्सा करता है तो समझो इनमें क्रोध का भूत है। वह जैसे भूतनाथ-भूतनाथिनी बन जाते हैं, ऐसे भूत वालों से कभी बात नहीं करनी चाहिए। एक ने क्रोध में आकर बात की फिर दूसरे में भी भूत आ गया तो भूत आपस में लड़ पड़ेंगे। भूतनाथिनी अक्षर बड़ा छी-छी है। भूत की प्रवेशता नहीं हो जाए इसलिए मनुष्य किनारा करते हैं। भूत के सामने खड़ा भी नहीं होना चाहिए, नहीं तो प्रवेशता हो जायेगी। बाप आकर आसुरी गुण निकाल दैवीगुण धारण कराते हैं। बाप कहते हैं मैं आया हूँ दैवीगुण धारण कराए देवता बनाने। बच्चे जानते हैं हम दैवीगुण धारण कर रहे हैं। देवताओं के चित्र भी सामने हैं। बाबा ने समझाया है क्रोध वाले से एकदम किनारा कर लो। अपने को बचाने की युक्ति चाहिए। हमारे में क्रोध न आ जाए, नहीं तो सौ गुणा पाप पड़ जायेगा। कितनी अच्छी समझानी बाप बच्चों को देते हैं। बच्चे भी समझते हैं – बाबा हूबहू कल्प पहले मुआफिक समझाते हैं, नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार समझते ही रहेंगे। अपने ऊपर भी रहम करना है, दूसरे पर भी रहम करना है। कोई अपने पर रहम नहीं करते, दूसरे पर करते हैं तो वह ऊंच चढ़ जाते हैं, खुद रह जाते हैं। खुद विकारों पर जीत पहनते नहीं, दूसरे को समझाते हैं, वह जीत पहन लेते हैं। ऐसे भी वन्डर होता है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉनिंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ज्ञान का सिमरण कर अतीन्द्रिय सुख में रहना है। किसी से भी रफढफ बातचीत नहीं करनी है। कोई गुस्से से बात करे तो उससे किनारा कर लेना है।

2) भगवान का वारिस बनने के लिए पहले उन्हें अपना वारिस बनाना है। समझदार बन अपना सब बाप हवाले कर ममत्व मिटा देना है। अपने ऊपर आपेही रहम करना है।

वरदान:- एकरस स्थिति द्वारा सदा एक बाप को फालो करने वाले प्रसन्नचित भव
आप बच्चों के लिए ब्रह्मा बाप की जीवन एक्यूरेट कम्प्युटर है। जैसे आजकल कम्प्यूटर द्वारा हर एक प्रश्न का उत्तर पूछते हैं। ऐसे मन में जब भी कोई प्रश्न उठता है तो क्या, कैसे के बजाए ब्रह्मा बाप के जीवन रूपी कम्प्युटर से देखो। क्या और कैसे का क्वेश्चन ऐसे में बदल जायेगा। प्रश्नचित के बजाए प्रसन्नचित बन जायेंगे। प्रसन्नचित अर्थात् एकरस स्थिति में एक बाप को फालो करने वाले।
स्लोगन:- आत्मिक शक्ति के आधार पर सदा स्वस्थ रहने का अनुभव करो।

अव्यक्त स्थिति का अनुभव करने के लिए विशेष होमवर्क

चाहे कोई भी साधारण कर्म भी कर रहे हो तो भी बीच-बीच में अव्यक्त स्थिति बनाने का अटेन्शन रहे। कोई भी कार्य करो तो सदैव बापदादा को अपना साथी समझकर डबल फोर्स से कार्य करो तो स्मृति बहुत सहज रहेगी। स्थूल कारोबार का प्रोग्राम बनाते बुद्धि का प्रोग्राम भी सेट कर लो तो समय की बचत हो जायेगी।

TODAY MURLI 2 JANUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 1 January 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 1 January 2019 :- Click Here

02/01/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, make full effort at this most auspicious confluence age to become the most elevated human beings. Pay as much attention as possible to having remembrance and to studying.
Question: You children are very big businessmen. Therefore, what should you always pay attention to and think about?
Answer: Always think about profit and loss. If you don’t think about this, you will have to become maids and servants. You will then lose the inheritance of the kingdom for 21 births that the Father gives you. Therefore, make a good deal with the Father. The Father is the Bestower and you children give a handful of rice, as Sudama did, and claim the sovereignty of the world.

Om shanti. Children are sitting here. This is a school. This is not a spiritual gathering. It isn’t the head of an ashram or a sannyasi who is sitting in front of you. There is no question of fear of the swami becoming upset with you. On the path of devotion, when they invite a sage or sannyasi to their home they wash his feet and drink that water. That One is the Father. Are children at home ever afraid of their father? You eat, drink and play with your father. Do you do that with sannyasis or gurus etc? There, throughout the whole day, you say, “Guruji, guruji!” Here, you don’t have to do that. That One is the Father. You receive the teacher’s inheritance from the t eacher and the guru’s inheritance from the guru. From the father, you receive property. As soon as a child is born, he becomes an heir. Here, too, you become the children of the Father when you recognise Him and you then become the masters of heaven. The Father is the Creator of heaven. No one knows how or from where this Lakshmi and Narayan claimed the kingdom of heaven. You understand that you were that and that you are once again becoming that. People don’t think at all about whom that One is or whom it is they are worshipping. They go to a Shiva Temple and simply pour water over the Shivalingam and return home. They don’t know anything at all. You now have the feeling that you will shed those bodies of the land of death and go to the land of immortality. The attainment is very big. On the path of devotion there is no attainment at all. Baba himself says: I adopted 12 gurus. He now understands that that was a waste of time and that, in fact, he continued to come down even more. However, that too is fixed in the drama. We don’t have any enmity for anyone. We have love for only the one Father. When you come into the classroom, you should become very happy on seeing these pictures, because that is what you are studying to become. You know how this kingdom is being established. The Father says: Children, don’t be confused. The Father explains so clearly, and yet some become those who are amazed by the knowledge when they hear it, they relate it to others and then run away. They then belong to Maya. They are called traitors who leave their kingdom and go and belong to another kingdom. The Father inspires you so much to make effort. On the path of devotion, people wander around so much. They make many donations, perform a lot of charity, go on pilgrimages and also observe fasts. OK, so what if someone has a vision? They didn’t go into the ascending stage. In fact, they came even further down into the descending stage. For you, each day is the ascending stage. For all the rest, it is the descending stage. Gurus say that knowledge is the day of Brahma and devotion is the night of Brahma. There is the difference of day and night between knowledge and devotion. You receive happiness through knowledge. The Father tells you such easy knowledge: You were the masters of the world and then you continued to come down. The Father now says: Simply consider yourself to be a soul. Souls are imperishable. Souls say: O imperishable Father, come and purify us. Liberation and liberation-in-life are both included in that. You now understand that you didn’t know anything at all on the path of devotion; you were still searching. You used to sing: O God, have mercy! It isn’t very tasteful and you don’t remember the inheritance when you say “God”. As soon as you say, “Highest-on-high Shiv Baba”, you instantly remember the inheritance. You now understand that this is the kingdom of Ravan. The kingdom of Rama exists in the golden age. It is now the iron age. There were very few human beings in the golden age. There was just the one original eternal deity religion. There was peace and happiness. Here, people continue to wander around searching for peace. They spend so much money on conferences etc. You can write to them: That One is the Ocean of Peace, the Ocean of Purity and also the Ocean of Prosperity. Everything is received from that One. You now know that you were very wealthy in the golden age. There was peace in the world there. However, souls experience peace in their home, the supreme abode. When we were alone in the world, there was everything, including peace and happiness. Therefore, you children should be very happy. Look at what they have written in the scriptures about such a heaven! The Father now says: I explain to you so much that there is no need for you to ask any questions etc. First of all, constantly remember Me alone. You call out: Come and purify the impure ones, that is, come and make the old world new. However, you don’t understand the meaning of that at all. The thread is all tangled up, and it now has to be sorted out. In devotion, they have created so many images. They have given the discus to Krishna and shown him killing Akasur, Bakasur (devils) etc. with that. Was he violent? Then they say he abducted so-and-so. They have made him doubly violent. It is a wonder. It is a wonder of the intellects of those who wrote the scriptures. Then they call that one God Vyas. The Father now says: Remember Me and imbibe divine virtues. There is nothing else to do. You are made to sit in yoga because there are many who don’t remember Baba; they remain engaged in their own business. They don’t have any time at all. However, here, you have to remember Baba with your intellect even while doing your work. You are lovers of Me, the Beloved. I now tell you: Break away from everyone else and connect yourselves to Me alone. While eating and drinking, simply instil the habit: “I am a soul”, and remember the Father. The Father is making you so elevated. You don’t accept these things worth a few pennies (of remembrance being so simple) and you don’t remember Me! You remember your children etc., but you cannot remember Me. In fact, it is wrong to say: Make someone conduct meditation for me specially. Baba comes and says directly : Constantly remember Me alone. The Father personally explained to you in the previous cycle too. He now says: Sweetest, beloved children, who have met Me again after a cycle, your 84 births are now coming to an end. You now definitely have to become pure in order to go back home. It is because of indulging in vice that you have become so impure. If you don’t become pure, you will receive a low status. Consider yourself to be a soul and remember the Father and also remember the cycle of 84 births. This is the discus of self-realisation. No one understands the meaning of this. You have to blow the conch shell. These are aspects of knowledge. This is your unlimited Father, the Creator of heaven. Remember the Father and you will go into the ascending stage. This is such an easy thing. You children now understand that this drama is predestined. The Father comes here every 5000 years. You now have to make effort very well. Why do you chase after wealth? Achcha, even if you earn 100,000 or 200,000 a month, all of that is to end. Even your children won’t remain to use that. There is the greed that your sons, grandsons and great-grandsons would eat from that. It isn’t that all of them would take rebirth in the same family. You can’t tell where they will take rebirth. You receive the inheritance for 21 births. If you make less effort, you will become maids and servants of the subjects and you will incur so much loss. So, you also have to think about profit and loss. Businessmen commit a lot of sin and so they definitely put something aside for charity. This is the business of the imperishable jewels of knowledge which scarcely any people do. You have to make this deal directly with the Father. The Father gives you jewels of knowledge. He is the Bestower. You children give a handful of rice whereas the Father gives you an unlimited sovereignty. In comparison to that, this is a handful of rice. All of you are Sudama. What do you give and what do you receive? You claim the sovereignty of the world and become the masters of the world. Your intellects say that there will only be the one land of Bharat. The elements will also be new. Souls will be satopradhan. When you were deities in the golden age, you were puregold. Then, in the silver age, there was a little alloy of silver mixed into souls and that was called the silver age. You continued to come down the ladder. At this time, you are very elevated. There is also the image of the variety form, but people don’t understand the meaning of that. There are so many images. Some keep a picture of Christ and others keep a picture of Sai Baba. Some even make those of Islam their gurus. They go there and have a party where they drink a lot of alcohol. The Father says: There is so much darkness of ignorance. All of that is the darkness of devotion. You have to be very cautious about the company you keep. It is said: Good company takes you across and bad company drowns you. Bad company is the five vices of Maya. You have now found the company of the true Father with which you are going across. The Father alone speaks the truth. You receive the company of the Truth every cycle. Then, after half the cycle, you receive the bad company of Ravan. You also understand that the kingdom will definitely be established as it was in the previous cycle. You will definitely become the masters of the world. Here, because partition took place, there is so much fighting. There, there is just the one religion. There was peace in the world when there was the one kingdom of undivided deities. There was just the one religion. Where could peacelessness come from there? That was God’s kingdom. God established that kingdom with spiritual knowledge and so there would definitely have been happiness there. The Father loves you children. The Father says: I know how much you have had to stumble around. People understand that God will definitely come in one form or another. Sometimes they show Him riding a bull. Could anyone ride a bull? There is so much darkness. So, you children should now tell everyone: The Father has come to give you all the inheritance. The new world is being established through Brahma. Baba always gives the example of the banyan tree. In fact, its foundation is being established once again. No other religion will remain. Bharat is the imperishable land and the imperishable pilgrimage place. It is the Father’s birthplace. Baba explains to you sweetest children with so much love. In the form of the Teacher, He teaches you. You children study and go ahead of Me. I do not claim the kingdom. Have you ever invited Me to heaven saying, “Come here”? I send you to heaven. This is such a wonderful play. The Father says: Achcha, children, may you have a long life! I will go and stay in the stage of retirement. The Father says: There are now calamities over your head. This is why you have to make full effort to become the most elevated human beings at this most auspicious confluence age. Continue to make effort to remember the Father and your sins will be absolved. To the extent that you study, you will accordingly go into an elevated clan. The Father says: Grind your own ingredients and your intoxication will rise. Children always receive the inheritance from the Father. In the world outside, only sons receive it whereas daughters are donated (married off). Here, all souls receive the inheritance and that is also an unlimited one. So you have to pay full attention to this. God is teaching you and so you mustn’t miss a single day. Some say to Baba: I don’t have time. Oh really? Aren’t you ashamed to say that you, the soul, don’t have time to study with Me? Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Be very cautious about the company you keep. Keep the company of the one true Father. Remain very distant from the company of Maya, the five vices.
  2. Pay full attention to your study. Remain lost in your own intoxication. It is said: Grind your own ingredients and you will feel intoxicated. Don’t miss this study for even a day.
Blessing: May you remain a constantly carefree trustee and with the Father’s help change a crucifix into a thorn.
The past accounts are like a crucifix, but with the Father’s help, they become like a thorn. Adverse situations will definitely come because everything has to be settled here, but the Father’s help changes them into a thorn. Because the great Father is with you it makes a big thing small. Have this faith and remain constantly carefree. As a trustee, change “mine” into “Yours” and become light and all burdens will finish in a second.
Slogan: With a stock of good wishes, transform the negative into positive.

*** Om Shanti ***

Special effort to become equal to Father Brahma.

With the stage of introspection, know the secrets of each one’s heart and make them happy. For this, experience the extra-ordinary stage in something ordinary yourself and also give this experience to others. At the time of coming into extroversion, also keep the stage of introspection with you.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 2 JANUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 2 January 2019

To Read Murli 1 January 2019 :- Click Here
02-01-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – इस पुरुषोत्तम संगमयुग में पुरुषोत्तम बनने का पूरा-पूरा पुरुषार्थ करो, जितना हो सके याद और पढ़ाई पर अटेन्शन दो”
प्रश्नः- तुम बच्चे बहुत बड़े व्यापारी हो, तुम्हें हमेशा किस बात पर ध्यान दे विचार करना चाहिए?
उत्तर:- हमेशा घाटे और फायदे पर विचार करो। अगर इस पर विचार नहीं किया तो प्रजा में दास दासी बनना पड़ेगा। बाप 21 जन्मों की राजाई का जो वर्सा देते हैं उसे गँवा देंगे इसलिए बाप से पूरा सौदा करना है। बाप है दाता, तुम बच्चे सुदामे मिसल चावल मुट्ठी देते हो और विश्व की बादशाही लेते हो।

ओम् शान्ति। बच्चे यहाँ बैठे हैं। यह स्कूल है। यह कोई सतसंग नहीं है। महन्त, ब्राह्मण वा कोई सन्यासी सामने नहीं बैठा है। डर की कोई बात नहीं कि स्वामी नाराज़ न हो जायें। भक्ति मार्ग में जब कोई साधू सन्यासी को घर में बुलाते हैं तो उनके पाँव धोकर पीते हैं, यह तो बाप है ना। घर में बच्चे कभी बाप से डरते हैं क्या। तुम तो साथ में खाते-पीते, खेलते हो। सन्यासी-गुरू आदि के साथ ऐसे करते हैं क्या? वहाँ तो सारा दिन गुरू जी, गुरू जी करते रहते हैं। यहाँ तो ऐसे नहीं करना है। यह तो बाप है। गुरू से अपना वर्सा, टीचर से अपना वर्सा मिलता है। बाप से तो प्रापर्टी मिलती है। बच्चा पैदा हुआ और वारिस बना। यहाँ भी बाप के बच्चे बने, बाप को पहचाना, बस हम स्वर्ग के मालिक हैं। बाप है ही स्वर्ग का रचयिता। इन लक्ष्मी-नारायण ने स्वर्ग की राजाई कैसे और कहाँ से ली – यह कोई भी नहीं जानते। तुम समझते हो हम यह थे फिर बन रहे हैं। मनुष्य तो कुछ भी ख्याल नहीं करते कि यह कौन हैं, हम किसको पूजते हैं। शिव के मन्दिर में जाकर सिर्फ लोटी चढ़ाकर आते हैं, जानते कुछ भी नहीं। तुमको अब फीलिंग आती है कि हम यह मृत्युलोक का शरीर छोड़ अमरलोक में जायेंगे। प्राप्ति कितनी भारी है। भक्ति मार्ग में कुछ भी प्राप्ति नहीं। बाबा खुद भी कहते हैं हमने 12 गुरू किये। अब समझते हैं कि यह तो टाइम वेस्ट हो गया और ही नीचे उतरते गये। परन्तु यह भी ड्रामा में नूँध है। हमारी कोई से दुश्मनी नहीं है। हमारी एक बाप के साथ ही प्रीत है। तुम जब अन्दर क्लास में आते हो तो इन चित्रों को देख खुश होना चाहिए कि हम पढ़ करके यह बन रहे हैं। तुमको मालूम है यह राजधानी कैसे स्थापन होती है। बाप कहते हैं बच्चे मूँझो मत। बाप इतना अच्छी रीति समझाते हैं फिर भी आश्चर्यवत सुनन्ती, कथन्ती, भागन्ती हो जाते हैं। माया के बन जाते हैं, उनको कहा जाता है ट्रेटर, जो एक राजधानी से निकल दूसरे के जाकर बनते हैं। बाप कितना अच्छी रीति पुरुषार्थ कराते हैं। भक्ति मार्ग में कितना भटकते हैं। दान-पुण्य, तीर्थ, व्रत-नेम आदि बहुत करते हैं। अच्छा साक्षात्कार हुआ तो क्या हुआ। चढ़ती कला तो हुई नहीं और ही उतरती कला हुई। तुम्हारी दिन-प्रतिदिन चढ़ती कला है। बाकी सबकी है उतरती कला। गुरू लोग कहते भी हैं ज्ञान ब्रह्मा का दिन है, भक्ति ब्रह्मा की रात है। ज्ञान और भक्ति में रात दिन का फर्क है। ज्ञान से सुख मिलता है, बाप कितना सहज समझाते हैं कि तुम ही विश्व के मालिक थे फिर तुम ही नीचे उतरते आये हो। अब बाप कहते हैं सिर्फ अपने को आत्मा समझो। आत्मा अविनाशी है। आत्मा कहती है हे अविनाशी बाप हमको आकर पावन बनाओ, इसमें मुक्ति जीवनमुक्ति सब आ जाता है। तुम अभी समझते हो भक्ति में हम कुछ भी नहीं जानते थे। ढूँढ़ते रहते थे। गाते रहते थे हे भगवान रहम करो। भगवान कहने से इतनी टेस्ट नहीं आती, वर्सा याद नहीं आता। तुम कहेंगे ऊंचे ते ऊंचा शिवबाबा तो फौरन वर्सा याद आयेगा। अभी तुम समझते हो कि यह रावण राज्य है। रामराज्य होता है सतयुग में। अभी तो कलियुग है। सतयुग में बहुत थोड़े मनुष्य थे। एक ही आदि सनातन धर्म था। सुख शान्ति थी। यहाँ मनुष्य शान्ति के लिए भटकते रहते हैं। कितना खर्चा करते हैं – कानफ्रेन्स आदि में। तुम उन्हों को लिख सकते हो शान्ति का सागर, पवित्रता का सागर, सम्पत्ति का भी वह सागर है। सब कुछ उनसे मिलता है।

अभी तुम जानते हो सतयुग में हम बहुत धनवान थे। विश्व में शान्ति तो वहाँ थी। बाकी आत्माओं को शान्ति होती है परमधाम घर में। विश्व में हम अकेले ही थे तो सुख-शान्ति सब था। तो बच्चों को बहुत खुशी होनी चाहिए। ऐसे स्वर्ग के लिए शास्त्रों में क्या-क्या बातें लिख दी है। अब बाप कहते हैं मैं तुमको इतना समझाता हूँ जो तुमको कोई भी प्रश्न आदि पूछने की दरकार नहीं। पहले तो मामेकम् याद करो। तुम बुलाते हो पतितों को आकर पावन बनाओ अर्थात् पुरानी दुनिया को आकर नया बनाओ। परन्तु अर्थ कुछ भी नहीं समझते। सूत मूँझा हुआ है। अब सुलझाना पड़ता है। भक्ति में कितने चित्र बनाये हैं, कृष्ण को चक्र दे दिया है, जिससे अकासुर बकासुर को मारा। अरे वह कोई हिंसक था क्या? फिर कहते फलानी-फलानी को भगाया। डबल हिंसक बना दिया है। वन्डर है ना, जिन्होंने शास्त्र बनाये हैं उन्हों के बुद्धि की कमाल है। फिर उनको कहते व्यास भगवान। अब बाप कहते हैं मुझे याद करो और दैवीगुण धारण करो। और कोई बात नहीं। तुमको योग में बिठाया जाता है क्योंकि बहुत हैं जो बाबा को याद नहीं करते। अपने ही धन्धों में रहते हैं। उनको फुर्सत ही नहीं। परन्तु इसमें तो काम आदि करते भी बुद्धि से याद करना है। तुम आशिक हो मुझ माशूक के। अब मैं तुमको कहता हूँ और संग तोड़ मुझ एक संग जोड़ो। खाते पीते सिर्फ यह आदत डालो कि मैं आत्मा हूँ और बाप को याद करो। बाप तुमको कितना ऊंचा बनाते हैं, तुम यह पाई-पैसे की बात नहीं मानते, मुझे याद नहीं करते। अपने बाल बच्चों को करते हो, मुझे नहीं कर सकते हो। वास्तव में निष्ठा अक्षर कहना रांग है। बाबा डायरेक्ट आकर कहते हैं मामेकम् याद करो। कल्प पहले भी सम्मुख बाप ने समझाया था। अभी समझाते हैं मीठे-मीठे बच्चे कल्प के बाद मिले हुए लाडले बच्चे.. अब तुम्हारे 84 जन्म पूरे हुए। अब वापिस जाने के लिए तुमको पवित्र ज़रूर बनना पड़ेगा। विकार में जाने कारण ही तुम बहुत पतित बने हो। पावन नहीं बनेंगे तो पद भी कम मिलेगा। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो और 84 के चक्र को भी याद करो, यही स्वदर्शन चक्र है। इसका अर्थ भी कोई नहीं जानता। मुख से ज्ञान शंख बजाना है। यह ज्ञान की बातें हैं। यह तुम्हारा बेहद का बाप है, स्वर्ग का रचयिता है, बाप को याद करो तो तुम्हारी चढ़ती कला हो जायेगी। कितनी सहज बात है।

तुम बच्चे अब समझते हो कि यह बना बनाया ड्रामा है। हर 5 हज़ार वर्ष के बाद बाप आते हैं। अब अच्छी तरह पुरुषार्थ करो। तुम धन के पीछे क्यों मरते हो। अच्छा मास में लाख दो लाख कमायेंगे परन्तु यह सब खत्म हो जायेगा। बाल बच्चे खाने वाले ही नहीं रहेंगे। लोभ रहता है कि पुत्र पोत्रे, तर पोत्रे खायेंगे। ऐसे नहीं पुनर्जन्म सब उस कुल में ही लेंगे। पुनर्जन्म पता नहीं कहाँ-कहाँ लेते हैं। तुम तो 21 जन्म का वर्सा पाते हो। अगर कम पुरुषार्थ किया तो प्रजा में दास दासियाँ जाकर बनेंगे तो कितना घाटा हो जायेगा। तो घाटे और फायदे का भी विचार करो। व्यापारी लोग पाप भी बहुत करते हैं तो कुछ न कुछ धर्माऊ निकालते हैं। यह तो है अविनाशी ज्ञान रत्नों का व्यापार, जो कोई विरला करते हैं। यह सौदा डायरेक्ट बाप से करना है। बाप देते हैं ज्ञान रत्न। वह तो दाता है। बच्चे चावल मुट्ठी देते हैं बाप तो देते हैं बेहद की बादशाही। उनकी भेंट में यह चावल मुट्ठी हुई ना। तुम सब सुदामे हो। क्या देते हो और क्या लेते हो? विश्व की बादशाही लेकर विश्व के मालिक बनते हो। बुद्धि कहती है एक ही भारत खण्ड होगा। प्रकृति भी नई होगी। आत्मा भी सतोप्रधान होगी। सतयुग में तुम देवतायें थे तो प्योर सोना थे। फिर त्रेता में थोड़ी चांदी आत्मा में पड़ती है, उनको सिल्वर एज कहा जाता है। सीढ़ी नीचे उतरते जाते हैं। इस समय तुम बहुत ऊंचे हो। विराट रूप का चित्र भी है। सिर्फ अर्थ नहीं समझते। कितने ढेर चित्र हैं। कोई क्राइस्ट का चित्र रखते हैं तो कोई सांई बाबा का रखते। मुसलमानों को भी गुरू करते हैं। फिर वहाँ जाकर शराब की महफिल करते हैं। बाप कहते कितना अज्ञान अन्धियारा है। यह सब है भक्ति का अन्धियारा।

संग की बहुत सम्भाल रखनी है। कहा भी जाता है संग तारे कुसंग बोरे, कुसंग है माया के 5 विकारों का। अभी तुमको सत बाप का संग मिला है, जिससे तुम पार जा रहे हो। बाप ही सत बोलते हैं। कल्प-कल्प तुमको सत का संग मिलता है फिर आधाकल्प के बाद कुसंग मिलता है रावण का। यह भी समझते हो कल्प पहले मिसल राजधानी जरूर स्थापन होगी। तुम विश्व के मालिक जरूर बनेंगे। यहाँ तो पार्टीशन होने के कारण कितने झगड़े होते हैं। वहाँ तो है ही एक धर्म। विश्व में शान्ति थी जबकि अद्वेत देवताओं का राज्य था। एक ही धर्म था। वहाँ अशान्ति कहाँ से आई। वह है ही ईश्वरीय राज्य। प्रीचुअल नॉलेज से परमात्मा ने किंगडम स्थापन की है तो ज़रूर वहाँ सुख होगा। बाप का बच्चों पर प्यार होता है ना। बाप कहते हैं मैं जानता हूँ तुमको कितने धक्के खाने पड़ते हैं। समझते हैं भगवान कोई न कोई रूप में आ जायेगा। कब बैल पर सवारी भी दिखाते हैं। अब बैल पर कभी सवारी होती है क्या। कितना अन्धियारा है। तो तुम बच्चे अब सबको बताओ कि बाप सबको वर्सा देने आये हैं, ब्रह्मा द्वारा नई दुनिया की स्थापना हो रही है। बाबा हमेशा बड़ के झाड़ का मिसाल देते हैं। वैसे इनका जो फाउन्डेशन है वही फिर से स्थापन कर रहे हैं और कोई धर्म रहेगा नहीं। भारत है अविनाशी खण्ड और अविनाशी तीर्थ। बाप का बर्थ प्लेस है ना। बाबा मीठे-मीठे बच्चों को कितना प्यार से समझाते हैं। टीचर के रूप में पढ़ाते हैं। तुम बच्चे पढ़कर मेरे से भी ऊंच चले जाते हो। मैं तो राजाई लेता नहीं हूँ। तुमने मुझे कभी स्वर्ग में बुलाया है क्या कि आओ- मैं तुमको स्वर्ग में भेज देता हूँ। कितना मजे का खेल है। बाप कहते हैं अच्छा बच्चे जीते रहो। हम वानप्रस्थ अवस्था में जाकर रहता हूँ।

बाप कहते हैं अब तो आफतें सिर पर खड़ी हैं, इसलिए पुरुषोत्तम बनने का इस पुरुषोत्तम संगमयुग पर पूरा-पूरा पुरुषार्थ करना है। बाप को याद करने का पुरुषार्थ करते रहो तो विकर्म विनाश होंगे और जितना जो पढ़ेंगे वह ऊंच कुल में जायेंगे। बाप कहते हैं अपनी घोट तो नशा चढ़े। सदा बच्चों को बाप से वर्सा मिलता है। लौकिक में तो बच्चे को मिलता है। बाकी कन्या दान होता है। यहाँ तो सब आत्माओं को वर्सा मिलता है सो भी बेहद का। तो इस पर पूरा ध्यान देना चाहिए। भगवान पढ़ाते हैं एक दिन भी मिस नहीं करना चाहिए। बाबा को कहे कि मुझे फुर्सत नहीं है। अरे आत्मा को फुर्सत नहीं है मेरे से पढ़ने लिए, यह कहने में शर्म नहीं आता। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) संग से अपनी बहुत सम्भाल करनी है। एक सत बाप का संग करना है। माया 5 विकारों के संग से बहुत दूर रहना है।

2) पढ़ाई पर पूरा ध्यान देना है। अपनी मस्ती में रहो। कहा जाता अपनी घोट तो नशा चढ़े। एक दिन भी पढ़ाई मिस मत करो।

वरदान:- बाप की मदद से सूली को कांटा बनाने वाले सदा निश्चिंत और ट्रस्टी भव
पिछला हिसाब सूली है लेकिन बाप की मदद से वह कांटा बन जाता है। परिस्थितियां आनी जरूर हैं क्योंकि सब कुछ यहाँ ही चुक्तू करना है लेकिन बाप की मदद उन्हें कांटा बना देती है, बड़ी बात को छोटा बना देती है क्योंकि बड़ा बाप साथ है। इसी निश्चय के आधार से सदा निश्चिंत रहो और ट्रस्टी बन मेरे को तेरे में बदली कर हल्के हो जाओ तो सब बोझ एक सेकण्ड में समाप्त हो जायेंगे।
स्लोगन:- शुभ भावना के स्टॉक द्वारा निगेटिव को पॉजिटिव में परिवर्तन करो।

ब्रह्मा बाप समान बनने के लिए विशेष पुरुषार्थ

अन्तर्मुख स्थिति द्वारा हर एक के दिल के राज़ को जानकर उन्हें राज़ी करो। इसके लिए साधारण रूप में असाधारण स्थिति का अनुभव स्वयं भी करो और औरों को भी कराओ। बाहरमुखता में आने समय अन्तर्मुखता की स्थिति को भी साथ-साथ रखो।

TODAY MURLI 2 JANUARY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 2 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 1 January 2018 :- Click Here

02/01/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, this is the birth in which you have died alive. You are claiming your inheritance from God, the Father. You have won a huge lottery. Therefore, remain in limitless happiness.
Question: What should you explain to yourself in order to end all your worrying and finish your anger?
Answer: I am a child of God. I have to become as sweet as the Father.Just as Baba explains in a sweet way and doesn’t get angry, in the same way, I must be very sweet with others and not become like salt water, because I understand that every second that passes is part of the drama. Therefore, what is there to worry about?” Talk to yourself in this way and your worrying will end and your anger will disappear.
Song: This time of spring is the time to enjoy and forget the world.

Om shanti. This song is about the happiness of the children of God. You will not be able to sing such songs of happiness in the golden age. It is now that you receive treasures. This lottery is the greatest of all. When people win a lottery they become very happy. By winning this lottery you experience the happiness of heaven for birth after birth. This is the birth in which you have died alive. If you have not died a living death, this cannot be your birth of dying alive. Your mercury of happiness cannot rise high until you have died alive, that is, until you have made the Father belong to you. Therefore, you cannot receive your full inheritance until then. Those who belong to the Father and who remember Him are also remembered by the Father. You are the children of God. You have the intoxication that you are claiming your inheritance and blessings from God, the Father, for whom devotees stumble around on the path of devotion. They adopt many methods to try and meet the Father. They study many Vedas, scriptures and magazines etc. However, day by day, the world continues to become more sorrowful; it has to become tamopradhan. This is a tree of thorns. The Lord of Thorns comes and changes thorns into flowers. The thorns have become very large and they prick with great force. They have been given many different names. They do not exist in the golden age. The Father explains: This is the world of thorns: they continue to hurt each other. Within a household, there are such unworthy children, don’t even ask! They cause a lot of sorrow for their mother and father. Not everyone is the same. Human beings don’t know who it is that causes the most sorrow. The Father says: The gurus have destroyed the praise of God, whereas we praise Him a great deal. He is the supremely worthy Supreme Father, the Supreme Soul. The picture of Shiva is very good, but there are many people who don’t accept that Shiva is a point of light, because they say that souls and the Supreme Soul are one. A soul is very subtle. He sits in the centre of the forehead, and so how could the form of God be larger than that? Many scholars laugh at the Brahma Kumaris and say that the form of God cannot be like that, that He is an eternally burning light or that He is brighter than a thousand suns. In fact, that is wrong. Only the Father Himself can tell you His correct praise. He is the Seed of the human world tree. This world is like an inverted tree. No one in the golden and silver ages remembers Him. People remember God when they are unhappy. They say: O God, o Supreme Father, Supreme Soul, have mercy! There is no one in the golden and silver ages who asks for mercy. They are the Father’s, the Creator’s, new creation. The praise of that Father is limitless. He is the Ocean of Knowledge, the Purifier. Because He is the Ocean of Knowledge, He must surely have given knowledge. He is the Truth, the Living Being and the Embodiment of Bliss. It is living souls that imbibe knowledge. For instance, when a soul leaves his body, he carries the sanskars of knowledge with him. When he becomes a child, he will still have those sanskars, but, because the organs of the mouth will be small, he would be unable to speak. When his organs grow, the soul is inspired to remember and the memory returns. Little children also memorize the scriptures etc. That is because of the sanskars from their previous birth. The Father is now giving us our inheritance of knowledge. He has the knowledge of the whole world because He is the Seed. We cannot call ourselves the Seed. The seed of a tree definitely has the knowledge within it of the beginning, middle and end of that tree. The Father Himself says: I am the Seed of the world. The Seed of this tree is up above. That Father is the Truth, the Living Being, the Embodiment of Bliss and the Ocean of Knowledge. He also has the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world. What other knowledge could he have? Would it be the knowledge of the scriptures? Many have that. God would surely have something new, something that no scholar etc., would know. Ask anyone: How does the world tree emerge? How is it sustained? How long is its lifespan and how is it destroyed? How does it grow? No one would be able to explain any of these things. Of all the scriptures, the Gita is the only jewel; all the rest are its children. If they don’t understand anything even after reading the Gita, how would they benefit by studying any other scripture? The inheritance is received through the Gita. The Father now explains the secrets of the whole drama. The Father changes your intellects from stone to divine and makes you into lords of divinity. Everyone now has such a stone intellect that they are now lords of stone. However, they give themselves very big titles and consider themselves to have divine intellects. The Father explains: My praise is the most unique; I am the Ocean of Knowledge, the Ocean of Bliss and the Ocean of Happiness. Deities cannot be praised in this way. Devotees go in front of the deity idols and say: You are full of all divine virtues, completely pure with 16 celestial degrees. You understand that the praise is of only the one Father. Your intellects now have the full knowledge of how those who are portrayed in the temples have taken their full 84 births. Therefore, how much happiness you now have! Previously, you didn’t think in this way. You now understand that you have to become like them. Your intellects have been transformed a great deal. The Father explains to you children: Become very sweet with one another. Do not be salt water. Does Baba ever get angry with anyone? He explains in a very sweet manner. Even one second that passes can be said to be part of the drama. What is there to worry about in that? Explain to yourself in this way. You children of God are not any less. You can understand that God’s children must definitely live with God. God is incorporeal, and so His children too must be incorporeal. Those same children come here and adopt costumes to play their part s. The human beings in heaven belong to the deity religion. If you were to calculate how many births each one takes, you would have to beat your head so much! However, it is understood that the number of births decreases according to the time they come. Previously, you used to believe that human beings became cats and dogs. There is the contrast of day and night in your intellects between then and now. All of these things have to be imbibed. It is explained in a nutshell that the cycle of 84 births is now over. You now have to shed your dirty bodies. Everyone’s body is old, decayed and tamopradhan. Remove your attachment from it. Why should you remember your old body? Now remember the new body you are to receive in the golden age. You will go into the golden age via the land of liberation. When we go to the land of liberation in life, everyone else goes to the land of liberation. This is known as the cries of victory. After the cries of sorrow, there will be the cries of victory. So many will die, and so something has to be the instrument for that. There will be natural calamities. It is not that the ocean alone will destroy all the lands. Everything has to be finished off. However, Bharat, the imperishable land, remains. Because it is the birthplace of Shiv Baba, this land becomes the greatest pilgrimage place of all. The Father grants salvation to all, but human beings do not know this. For them not to know is also fixed in the drama. This is why the Father says: Children, you didn’t know anything either. I explain the whole significance of the Creator and His creation, that is, the beginning, the middle and the end of the human world. Rishis and munis have said that there is no end to it. They don’t understand that the five vices are the greatest enemies of the whole world. People of Bharat continue to burn Ravan year after year, but they do not know him because he is neither physical nor spiritual. The vices have no form at all. It is only when a person starts to act that it is understood whether he has the evil spirit of lust or anger. There are the highest, the average and the lowest stages in the vices as well. Some have tamopradhan intoxication of lust, some have a rajo stage of intoxication and some have a sato stage of intoxication. Some even remain celibate from birth. They think that it is too much bother to be part of a household. Such ones are known as the best people. Among sannyasis, those who are celibate from birth are considered good. It is very good for the Government,because the population doesn’t increase. They receive the power of purity. This is very incognito. Sannyasis remain pure. Little children also remain pure and those in their stage of retirement remain pure as well. Therefore, the power of purity continues to be received. They still have a rule that a child should remain pure up to a certain age. They also receive power from that. You are pure in a satopradhan way. You make a promise to the Father in this last birth. You are the ones who establish the golden age. Those who remain pure are the ones who become the masters of the pure world, numberwise, according to their efforts. This is God’s family. Once every cycle you live with God and then you take many births in the deity clan. This one birth is invaluable. This clan of God’s is the highest of all. The Brahmin clan is the highest, the topknot. From the lowest clan, we have become those who belong to the highest Brahmin clan. Only when Shiv Baba creates Brahma can He create Brahmins. Those who remain in Baba’s service experience a great deal of happiness. We have become God’s children and are following God’s shrimat. You glorify His name through your behaviour. Baba says: Others have devilish traits whereas you are becoming those with divine virtues. When you become complete, your behaviour will have become very good. Baba will say: You are the ones with divine virtues, numberwise, according to your efforts. Those with devilish traits are also numberwise. There are also those who are celibate from birth. It is very good that sannyasis remain pure, but they cannot grant anyone salvation. If gurus were able to grant souls salvation, they would take those souls back with them. However, they go away and leave them. Here, the Father says: I will take you back with Me. I have come in order to take you back with Me. They cannot take you. They themselves take rebirth to householders. Then, because of their sanskars, they again go and live in a gathering of sannyasis. Their names and forms continue to change in every birth. You children now understand that you will claim a status in the golden age according to the efforts you make now. There, you will not know how you claimed your status. You understand at this time that whatever efforts you made in the previous cycle, you will do the same now. Some children have also been given visions of how marriages take place there. There will be huge parks and gardens. There are now millions of people in Bharat. There will only be a few hundred thousand there. There will not be any tall buildings with so many storeys there. They exist now because there is no space. It will not be so cold there. There is no trace of sorrow there. There will not be so much heat that people would have to go up into the hills. The very name is heaven. At this time, people are living in the forest of thorns. The more they desire happiness, the more their sorrow increases. There is now to be a great deal of sorrow. When war breaks out, rivers of blood will flow. Achcha. This murli has been spoken in front of all you children. Number one is to listen personally; number two is to listen to a tape and number three is to read the murli. Therefore, it is satopradhan, sato and rajo. There cannot be a tamo stage for this. It is absolutely accurate on the tape. Achcha.

To the long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from BapDada and our sweet Maa. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Glorify the Father’s name with your behaviour and divine virtues. Remove devilish defects.
  2. Don’t have attachment to your old, decayed body. Remember your new body of the golden age and give incognito help by remaining pure.
Blessing: May you be a most elevated being who follows the highest code of conduct and who takes benefit from every direction and law of the Father.
It is said: To the extent that you follow the law, accordingly, you benefit. Therefore, do not step away from any of the laws from amrit vela onwards that have been created. The study, amrit vela, service – whatever timetable has been created, even if your mind cannot focus on it, do not missanything of the timetable. Devotees definitely follow the disciplines and definitely go to a temple even if they don’t feel like it. You, yourselves, are lawmakers. Therefore, continue to follow every discipline and from this experience you will become the highest beings who follow the highest code of conduct.
Slogan: All virtues will automatically keep coming to those who have the special virtue of contentment.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 2 JANUARY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 2 January 2017

To Read Murli 1 January 2018 :- Click Here
02/01/18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम्हारा यह मरजीवा जन्म है, तुम ईश्वर बाप से वर्सा ले रहे हो, तुम्हें बहुत बड़ी लाटरी मिली है, इसलिए अपार खुशी में रहना है”
प्रश्नः- अपने आपको कौन सी समझानी दो तो चिन्ता समाप्त हो जायेगी? गुस्सा चला जायेगा?
उत्तर:- हम ईश्वर की सन्तान हैं, हमें तो बाप समान मीठा बनना है। जैसे बाबा मीठे रूप से समझानी देते, गुस्सा नहीं करते। ऐसे हमें भी आपस में मीठा रहना है। लूनपानी नहीं होना है क्योंकि जानते हैं जो सेकेण्ड पास हुआ, वह ड्रामा में पार्ट था। चिन्ता किस बात की करें। ऐसे-ऐसे अपने आपको समझाओ तो चिन्ता खत्म हो जायेगी। गुस्सा भाग जायेगा।
गीत:- यही बहार है…

ओम् शान्ति। यह है ईश्वरीय सन्तान की खुशियों का गायन। तुम इतना खुशी का गायन सतयुग में नहीं कर सकेंगे। अभी तुमको खजाना मिल रहा है। यह है बड़े से बड़ी लाटरी। जब लाटरी मिलती है तो खुशी होती है। तुम फिर इस लाटरी से जन्म-जन्मान्तर स्वर्ग में सुख भोगते रहते हो। यह है तुम्हारा मरजीवा जन्म। जो जीते जी मरते नहीं, उनका मरजीवा जन्म नहीं कहेंगे। उन्हों को तो खुशी का पारा भी चढ़ नहीं सकता। जब तक मरजीवा नहीं बने हैं अर्थात् बाप को अपना नहीं बनाया है, तब तक पूरा वर्सा भी मिल नहीं सकता। जो बाप के बनते हैं, जो बाप को याद करते हैं उनको बाप भी याद करते हैं। तुम हो ईश्वरीय सन्तान। तुम्हें नशा है कि हम ईश्वर बाप से वर्सा अथवा वर ले रहे हैं, जिसके लिए भक्त लोग भक्ति मार्ग में धक्का खाते रहते हैं। बाप से मिलने के लिए अनेकानेक उपाय करते हैं। कितने वेद, शास्त्र, मैगज़ीन आदि अथाह पढ़ते रहते हैं। परन्तु दुनिया तो दिन प्रतिदिन दु:खी ही होती जाती है, इनको तमोप्रधान होना ही है। यह बबुल ट्री है ना। बबुलनाथ फिर आकर काँटों से फूल बनाते हैं। कॉटे बहुत बड़े-बड़े हो गये हैं। बड़े जोर से लगते हैं। उसको अनेक प्रकार के नाम दिये हुए हैं। सतयुग में तो होते नहीं। बाप समझाते हैं – यह है कॉटों की दुनिया। एक दो को दु:ख देते रहते हैं। घर में बच्चे भी ऐसे कपूत निकल पड़ते हैं जो बात मत पूछो। माँ-बाप को बहुत दु:खी करते हैं। सभी कोई एक समान भी नहीं होते। सबसे जास्ती दु:ख देने वाला कौन है? मनुष्य यह नहीं जानते। बाप कहते हैं इन गुरूओं ने परमात्मा की महिमा गुम कर दी है। हम तो उनकी बहुत महिमा करते हैं। वह परम पूज्य परमपिता परमात्मा है। शिव का चित्र भी बहुत अच्छा है। परन्तु बहुत लोग ऐसे हैं जो मानेंगे नहीं कि शिव कोई ऐसा ज्योर्तिबिन्दु है क्योंकि वह तो आत्मा सो परमात्मा कह देते हैं। आत्मा अति सूक्ष्म है जो भ्रकुटी के बीच में बैठी है, फिर परमात्मा इतना बड़ा आकार वाला कैसे हो सकता है? बहुत विद्वान, आचार्य लोग बी.के. पर हँसी उड़ाते हैं कि परमात्मा का ऐसा रूप तो हो नहीं सकता। वह तो अखण्ड ज्योतिर्मय तत्व हजारों सूर्यों से भी तेजोमय है। वास्तव में यह रॉग है। इनकी राइट महिमा तो बाप खुद ही बताते हैं। वह मनुष्य सृष्टि का बीजरूप है। यह सृष्टि एक उल्टा झाड़ है। सतयुग, त्रेता में उनको कोई याद नहीं करते। मनुष्य को जब दु:ख होता है तब उनको याद करते हैं – हे भगवान, हे परमपिता परमात्मा रहम करो। सतयुग, त्रेता में तो कोई रहम माँगने वाला होता नहीं। वह है बाप रचयिता की नई रचना। इस बाप की महिमा ही अपरमअपार है। ज्ञान का सागर, पतित-पावन है। ज्ञान का सागर है तो जरूर ज्ञान दिया होगा। वह सत, चित्, आनन्द स्वरूप है। चैतन्य है। ज्ञान तो चैतन्य आत्मा ही धारण करती है। समझो हम शरीर छोड़ जाते हैं तो आत्मा में ज्ञान के संस्कार तो हैं ही हैं। बच्चा बनेंगे तो भी वह संस्कार होंगे, परन्तु आरगन्स छोटे हैं तो बोल नहीं सकते। आरगन्स बड़े होते हैं तो याद कराया जाता है, तो स्मृति में आ जाता है। छोटे बच्चे भी शास्त्र आदि कण्ठ कर लेते हैं। यह सभी अगले जन्म के संस्कार हैं। अब बाप हमको अपना ज्ञान का वर्सा देते हैं। सारे सृष्टि का ज्ञान इनके पास है क्योंकि बीजरूप है। हम अपने को बीजरूप नहीं कहेंगे। बीज में जरूर झाड़ के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान होगा ना। तो बाप खुद कहते हैं मैं हूँ सृष्टि का बीजरूप। इस झाड़ का बीज ऊपर है। वह बाप सत् चित आनन्द स्वरूप, ज्ञान का सागर है। सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का ही उसमें ज्ञान होगा। नहीं तो क्या होगा! क्या शास्त्रों का ज्ञान होगा? वह तो बहुतों में है। परमात्मा की तो जरूर कोई नई बात होगी ना। जो कोई भी विद्वान आदि नहीं जानते। कोई से भी पूछो – इस सृष्टि रूपी झाड़ की उत्पत्ति, पालना, संघार कैसे होता है, इनकी आयु कितनी है, यह कैसे वृद्धि को पाता है… बिल्कुल कोई नहीं समझा सकता है।

एक गीता ही है सर्व शास्त्रमई शिरोमणी, बाकी तो सब हैं उनके बाल बच्चे। जबकि गीता पढ़ने से भी कुछ नहीं समझते तो बाकी शास्त्र पढ़ने से फ़ायदा ही क्या? वर्सा तो फिर भी गीता से मिलना है। अब बाप सारे ड्रामा का राज़ समझाते हैं। बाप पत्थरबुद्धि से पारसबुद्धि बनाए पारसनाथ बनाते हैं। अब तो सब पत्थरबुद्धि, पत्थरनाथ हैं। परन्तु वह अपने को बड़े-बड़े टाइटिल्स देकर अपने को पारसबुद्धि समझ बैठे हैं। बाप समझाते हैं मेरी महिमा सबसे न्यारी है। मैं ज्ञान का सागर, आनंद का सागर, सुख का सागर हूँ। ऐसी महिमा तुम देवताओं की नहीं कर सकते। भक्त लोग देवताओं के आगे जाकर कहेंगे आप सर्वगुण सम्पन्न… हैं। बाप की तो एक ही महिमा है। वह भी हम जानते हैं। अभी हम मन्दिर में जायेंगे तो बुद्धि में पूरा ज्ञान है कि इन्होंने तो पूरे 84 जन्म लिये होंगे। अभी अपने को कितनी खुशी है। आगे थोड़ेही यह ख्याल आता था। अभी समझते हैं हमको ऐसा बनना है। बुद्धि में बहुत परिवर्तन आ जाता है।

बाप बच्चों को समझाते हैं – आपस में बहुत मीठे बनो। लूनपानी मत बनो। बाबा कभी भी किससे गुस्सा करता है क्या? बड़े मीठे रूप से समझानी देते हैं। एक सेकण्ड पास हुआ कहेंगे यह भी ड्रामा में पार्ट था। इसकी चिंता क्या करनी है। ऐसे-ऐसे अपने को समझाना है। तुम ईश्वरीय सन्तान कम थोड़ेही हो। यह तो समझ सकते हो कि ईश्वरीय सन्तान जरूर ईश्वर के पास रहते होंगे। ईश्वर निराकार है तो उसकी सन्तान भी निराकार हैं। वही सन्तान यहाँ चोला लेकर पार्ट बजाती है। स्वर्ग में मनुष्य हैं देवी-देवता धर्म के। अगर सबका बैठ हिसाब निकालें तो कितना माथा मारना पड़े। परन्तु समझ सकते हैं कि नम्बरवार समय अनुसार थोड़े-थोड़े जन्म मिलते होंगे। आगे तो समझते थे मनुष्य कुत्ता बिल्ली बनते हैं। अभी तो बुद्धि में रात दिन का फ़र्क आ गया है। यह सब हैं धारणा करने की बातें। नटशेल में समझाते हैं कि अब 84 जन्म का चक्र पूरा हुआ। अभी इस छी-छी शरीर को छोड़ना है। यह सबका पुराना जड़जड़ीभूत, तमोप्रधान शरीर है, इससे ममत्व मिटा देना है। पुराने शरीर को याद क्या करें। अब तो अपने नये शरीर को याद करेंगे, जो मिलना है सतयुग में। वाया मुक्तिधाम होकर सतयुग में आयेंगे। हम जीवनमुक्ति में जाते हैं और सब मुक्तिधाम में चले जाते हैं। इसको जयजयकार कहा जाता है, हाहाकार के बाद जयजयकार होना है। इतने सब मरेंगे कोई तो निमित्त कारण बनेगा। नैचुरल कैलेमिटीज़ होंगी। सिर्फ सागर ही थोड़ेही सभी खण्डों को खलास करेगा। सब कुछ खलास तो होना ही है। बाकी भारत अविनाशी खण्ड रह जाता है क्योंकि यह है शिवबाबा का बर्थ प्लेस। तो यह हो गया सबसे बड़ा तीर्थ स्थान। बाप सबकी सद्गति करते हैं, यह कोई मनुष्य नहीं जानते हैं। उन्हों को न जानना ही ड्रामा में नूँध है। तब तो बाप कहते हैं कि हे बच्चे तुम कुछ नहीं जानते थे, मैं ही तुमको रचता और रचना अथवा मनुष्य सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का सारा भेद समझाता हूँ। जिसको ऋषि मुनि भी बेअन्त, बेअन्त कहकर गये हैं। यह थोड़ेही समझते हैं कि सारी दुनिया के 5 विकार बड़े भारी दुश्मन हैं। जिस रावण को भारतवासी वर्ष-वर्ष जलाते ही आते हैं। उसको जानते कोई नहीं क्योंकि वह न जिस्मानी है, न रूहानी है। विकारों का तो कोई रूप ही नहीं है। मनुष्य एक्ट में आता है तब पता पड़ता है कि इनमें काम का, क्रोध का भूत आया है। इस विकार की स्टेज में भी उत्तम, मध्यम, कनिष्ट होते हैं। कोई में काम का नशा एकदम तमोप्रधान हो जाता है, कोई को रजो नशा, कोई को सतो नशा रहता है। कोई तो बाल ब्रह्मचारी भी रहते हैं। समझते हैं यह भी एक झंझट है सम्भालना। सबसे अच्छा उनको कहेंगे। सन्यासियों में भी बाल ब्रह्मचारी अच्छे गिने जाते हैं। गवर्मेन्ट के लिए भी अच्छा है, बच्चों की वृद्धि नहीं होगी। पवित्रता की ताकत मिलती है। यह हुई गुप्त। सन्यासी भी पवित्र रहते हैं, छोटे बच्चे भी पवित्र रहते हैं, वानप्रस्थी भी पवित्र रहते हैं। तो पवित्रता का बल मिलता ही आता है। उन्हों का भी कायदा चला आता है कि बच्चे को इतनी आयु तक पवित्र रहना है। तो वह भी बल मिलता है। तुम हो सतोप्रधान पवित्र। यह अन्तिम जन्म तुम बाप से प्रतिज्ञा करते हो। तुम सतयुग की स्थापना करने वाले हो। जो करेगा सो पवित्र दुनिया का मालिक बनेगा, नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार।

यह है ईश्वरीय कुटुम्ब। ईश्वर के साथ हम रहते हैं कल्प में एक बार। बस फिर दैवी घराने में तो बहुत जन्म रहेंगे। यह एक जन्म ही दुर्लभ है। यह ईश्वरीय कुल है उत्तम से उत्तम। ब्राह्मण कुल सबसे ऊंची चोटी है। नीच ते नीच कुल से हम ऊंच ब्राह्मण कुल के हो गये। शिवबाबा जब ब्रह्मा को रचे तब तो ब्राह्मण रचे। कितनी खुशी रहती है, जो बाबा की सर्विस में रहते हैं। हम ईश्वर की औलाद बने हैं और ईश्वर की श्रीमत पर चलते हैं। अपनी चलन से उनका नाम बाला करते हैं। बाबा कहते हैं वह तो हैं आसुरी गुणों वाले, तुम दैवीगुणों वाले बन रहे हो। जब तुम सम्पूर्ण बन जायेंगे तो तुम्हारी चलन बहुत अच्छी हो जायेगी। बाबा कहेंगे यह हैं दैवी गुणों वाले, नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार। आसुरी गुण वाले भी नम्बरवार हैं। बाल ब्रह्मचारी भी हैं। सन्यासी पवित्र रहते हैं सो तो बहुत अच्छा है। बाकी वह किसकी सद्गति तो कर नहीं सकते। अगर कोई गुरू लोग सद्गति करने वाले होते तो साथ ले जाते, परन्तु खुद ही छोड़कर चले जाते हैं। यहाँ यह बाप कहते हैं मैं तुमको साथ ले जाऊंगा। मैं आया ही हूँ तुमको साथ ले जाने के लिए। वह तो ले नहीं जाते। खुद ही गृहस्थियों के पास जन्म लेते रहते हैं। संस्कारों के कारण फिर सन्यासियों के झुण्ड में चले जाते हैं। नाम रूप तो हर जन्म में बदलता रहता है। यह अभी तुम बच्चे जानते हो कि सतयुग में यहाँ के पुरुषार्थ अनुसार पद होगा। वहाँ यह मालूम नहीं होगा कि हमने यह पद कैसे पाया। यह तो अभी पता है जिसने जैसे कल्प पहले पुरुषार्थ किया था, वैसा ही अब करेंगे। बच्चों को साक्षात्कार भी कराया हुआ है कि वहाँ शादी आदि कैसे होती है। बड़े-बड़े मैदान, बगीचे आदि होंगे। अब तो भारत में ही करोड़ों की आबादी है। वहाँ तो कुछ लाख ही रहते हैं। वहाँ थोड़ेही इतनी मंजिलों वाले मकान होंगे। यह अभी हैं क्योंकि जगह नहीं है। वहाँ इतनी सर्दी नहीं होगी। वहाँ दु:ख की निशानी भी नहीं है। न बहुत गर्मी होती, जो पहाड़ों पर जाना पड़े। नाम ही है स्वर्ग। इस समय मनुष्य कॉटों के जंगल में पड़े हैं। जितना सुख की चाहना करते हैं उतना दु:ख बढ़ता ही जाता है। अब बहुत दु:ख होगा। लड़ाई होगी तो खून की नदियाँ बहेंगी। अच्छा।

यह मुरली सब बच्चों के आगे सुनाई। सम्मुख सुनना नम्बरवन, टेप से सुनना नम्बर टू, मुरली से पढ़ना नम्बर थ्री। सतोप्रधान, सतो और रजो। तमो तो कहेंगे नहीं। टेप में हूबहू आती है। अच्छा!

बापदादा और मीठी माँ का सिकीलधे बच्चों को यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिये मुख्य सार:-

1) अपनी चलन वा दैवीगुणों से बाप का नाम बाला करना है। आसुरी अवगुण निकाल देने हैं।

2) इस पुराने जड़जड़ीभूत शरीर में ममत्व नहीं रखना है। नये सतयुगी शरीर को याद करना है। पवित्रता की गुप्त मदद करनी है।

वरदान:- बाप के हर डायरेक्शन वा कायदे से फ़ायदा लेने वाले मर्यादा पुरुषोत्तम भव 
कहा जाता – जितना कायदा उतना फायदा, इसलिए अमृतवेले से जो भी कायदे बने हैं उनसे कभी किनारा नहीं करो। पढ़ाई, अमृतवेला, सेवा जो भी दिनचर्या बनी हुई है, उसमें मन नहीं भी लगे तो भी दिनचर्या में कुछ मिस नहीं करो। जैसे भक्त लोग नियम का पालन जरूर करते हैं, मन्दिर में मन नहीं भी लगे तो भी जायेंगे जरूर। आप तो स्वयं ला-मेकर्स हो, इसी अनुभव से हर नियम का पालन करते चलो तो मर्यादा पुरुषोत्तम बन जायेंगे।
स्लोगन:- जिनके पास सन्तुष्टता का विशेष गुण है उनके पास सर्व गुण स्वत: आते जायेंगे।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize