2 august ki murli

TODAY MURLI 2 AUGUST 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 2 August 2020

02/08/20
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
01/03/86

holy swan intellect, attitude, vision and mouth.

Today, BapDada is seeing the gathering of all the holy swans. This is not an ordinary gathering, but a gathering of spiritual holy swans. BapDada is looking at each holy swan to see to what extent each one of you has become a holy swan. Do you know very well the specialities of a swan? First of all, a swan intellect means one who always has elevated and pure thoughts for every soul. A holy swan means one who is able to discern very clearly the difference between a stone and a jewel and then imbibes that. Firstly, to discern the intention of each soul, and to adjust accordingly. A holy swan never adopts an impure or ordinary attitude towards any soul. You must always have pureintentionsand pure feelings. When you know their intentions, you will never be influenced by anyone’s ordinary or wasteful nature. You refer to pure intentions and pure feelings as nature, if it is wasteful, it has to be changed. BapDada is seeing to what extent you have become ones with such swan intellects, and, similarly, to what extent you have a swan attitude, which means constantly to have an elevated and benevolent attitude towards each soul: whilst having and seeing ‘non-benevolent’ things of each soul, being able to transform that non-benevolence. A benevolent attitude is known as having a holy swan attitude. With your attitude of benevolence, you can also transform others. To be able to transform the non-benevolent attitudes of others with your attitude of benevolence is the duty of a holy swan. In the same way, when it comes to your vision, always have a vision of pure and elevated love for every soul. No matter what the other person is like, always adopt a vision of spiritual, soul-conscious love for everyone. This is called having a holy swan vision. In the same way, in terms of words, you have already been told that bad words are a different matter. That has changed for Brahmins, but even to speak wasteful words is not called having a holy swan mouth. Even your mouth should be a holy swan mouth. Someone from whose mouth wasteful words never emerge is called one who has the stage of a swan-mouth. So, a holy swan intellect, attitude, vision and mouth: when these become pure, that is, elevated, the practical impact of a holy swan stage is visible. So, each one of you should check yourself: to what extent do you constantly walk and move along as a holy swan, because there isn’t a lot of time now for self-progress. Therefore, check and change yourself. The transformation of this time will enable you to claim a right to the golden world, which is transformed for a long time. BapDada gave you this signal earlier too. Do you all pay doubly-underlined attention to the self? The reward of the elevated attainment you receive by paying attention for a short time now is equivalent to what you would receive by paying attention over a long period. This is why this short time is very elevated and beautiful. It doesn’t even require effort: the Father said something and you imbibed it, and, by imbibing it, it automatically becomes practical. The duty of a holy swan is to imbibe. So, this is a gathering of such holy swans, is it not? You have become knowledge-full. You now understand very clearly what is wasteful and what is ordinary. After understanding something, you automatically put it into practice. In any case, in ordinary language, you say: I have now understood this and you then cannot stay without doing it. So, first of all, check what is ordinary and what is wasteful. You don’t sometimes think that what is wasteful or ordinary is elevated, do you? This is why, the first and foremost thing is a holy swan intellect. With this, you automatically develop the power to discern. Time and thoughts are wasted when you don’t recognise whether something is right or wrong. You consider wasteful and wrong things you do to be right and this is how more time is wasted. It is wasteful, but you think that you are powerful and that your thinking is rightthat whatever you say is right. Because you don’t have the power to discern in this, the power of the mind, the power of time and the power of words are all lost. The burden of taking help from other people also then increases. The reason? Because you have not become one with a holy swan intellect. So, BapDada is once again giving all the holy swans this signal: Do not see wrong as wrong. Do not think, “This one is wrong anyway”, but think about how you can put right what is wrong. This is known as having benevolent feelings. With your elevated feelings and pure wishes, you will gain victory in transforming your wasteful nature and the wasteful nature of others. Do you understand? First of all, become victorious over yourself, then victorious over others and you will then be victorious over nature. The victory of these three will make you into a bead of the rosary of victory. The atmosphere, the vibrations and physical matter are all included in nature. So, are you victorious over all three? On this basis, you will be able to see what your number will be in the rosary of victory. This is why it is called the rosary of victory (Vijayantimala). So, are all of you victorious? Achcha. Today, it is the turn of those from Australia. Those from Australia also receive a chance from those of you from Madhuban to become golden chancellors, because you have the speciality of giving everyone a chance by putting everyone in front of you. To place others in front of you and to give them a chance means to become a chancellor. Those who make the most of a chance and those who give a chance are both called chancellors. BapDada always sees and speaks about the speciality of every child. In Australia, the Pandavas especially have received a chance to do service. It is the Pandavas who look after the majority of centres. The Shaktis have given the Pandavas a chance. Those who place others at the front always remain at the front themselves. This is also the generosity of the Shaktis. However, you Pandavas are moving forward in servicing by constantly considering yourselves to be instruments, are you not? In doing service, the feeling of being an instrument is the basis of success in service. BapDada says three words, which were the words spoken by corporeal Baba at the end: incorporeal, viceless and egoless. By being an instrument, you automatically develop these three specialities. If there isn’t the feeling of being an instrument, you cannot experience any of these three specialities. The feeling of being an instrument easily finishes all types of consciousness of “I” and “mine”. There is nothing of “I” or “mine” when I am an instrument. An upheaval in one’s stage is due to this one weakness. You have to make effort in doing service and also for your flying stage. To be an instrument means always to remember the One who has made you an instrument. So, you are constantly moving forward in expanding service by using this speciality, are you not? To have growth in service is a sign of success. You have now become very experienced in having an unshakeable and immovable stage. Do you understand? Australia means those who have something extra that others don’t have. Australia doesn’t have a variety – Gujaratis, etc. You have done a lot of the work of “Charity begins at home“. You have awakened your equals. Kumars and kumaris are being benefited very well. In this life, each of you has to take an elevated decision for your own life. If you have made your own life elevated, you become elevated for all time. You have been saved from climbing the wrong ladder. BapDada is pleased that each light is lighting another and that many lamps have been lit and so a rosary of lights is being prepared. You have good zeal and enthusiasm. By keeping yourselves busy doing service, there is good progress. Firstly, you were told about the feeling of being an instrument. Secondly, for those who are instruments in service, there is a special slogan for their self-progress and for progress in service and it is also a means of safetyfor them: “Whatever we instrument souls do, others who see us will follow.” This is because to be an instrument in service means to come on to a stage. Just as a performer pays so much attention when he goes on stage, so to be an instrument for service means to perform a part on the stage. Everyone’s vision is on the stage. When someone is a heroactor, everyone’s vision is on that one a lot more. Therefore, this slogan is a means of safety. By doing this, you will naturally experience the flying stage. Whether you stay in a centre or stay anywhere else and do service, you are all servers. Some live at home and take their chance of doing service and that too is being on the stage of service. Do not waste your time but just spend your time serving. A great deal is accumulated in the account of service. Those who do service with honest hearts accumulate a lot in their accounts. BapDada has each child’s account of service from the beginning to the end. It continues to accumulate automatically. Each and every account does not have to be kept individually. Those who keep accounts have many files. The Father doesn’t have any physical fileseach one’s register from the beginning to the endemerges in a second. There is automatic accumulation. Don’t ever think: No one can see me, no one can understand me. BapDada has the account of what each one is, what he does and in what stage he does it: everything is accumulated. He doesn’t have a file, but it is final. The Shaktis in Australia have shown very good courage in belonging to the Father, recognising Him and fulfilling the responsibility of love for the Father. Mistakes of fluctuation occur due to the place, the land, or are all due to the sanskars of your past life. You go beyond this and move forward with the bond of love. This is why BapDada congratulates the Shaktis for their courage. “One Strength, one Support” is making you move forward. So, the wings of both the Shaktis’ courage and the Pandavas’ enthusiasm for service have become strong. On the field of service, the Pandavas are also moving forward as Mahavirs. They are good at going beyond fluctuations. This is everyone’s image. Pandavas are portrayed as big, strong, tall and broad because their stage is elevated and strong. This is why Pandavas are portrayed as tall and brave. Australians are also merciful to a greater extent. They become merciful for stumbling souls and are moving forward in doing service; they cannot live without doing service. BapDada is always pleased to see the children’s speciality of moving forward. You are especially fortunate. BapDada is pleased to see each child’s zeal and enthusiasm. He sees how each one is moving forward with an elevated aim and will continue to do so. BapDada constantly only sees the specialities. Each one is more loved than the next. You also see each other in this way, do you not? Whoever you see is more loved than the next, because those who have been separated for 5000 years are meeting again and so they are felt to be very lovely. The sign of loving the Father is that you will also love each Brahmin soul. To love every Brahmin means to love the Father. Only Brahmins will form relationships with one another in the rosary. The Father will retire and watch. So, always experience the sign of love from the Father. The Father has love for everyone and so you too have love for everyone. BapDada meeting groups: 1. Do all of you consider yourselves to be special souls? You are special souls, instruments for a special task and you have to show specialities. Let there always be this in your awareness. A special awareness makes any ordinary awareness powerful. It also finishes what is wasteful. Therefore, always remember this word “special”. Your words are special, your way of seeing is special, your thinking is special and your doing is special. By using the word “special” in every situation, you will automatically change and, by having this awareness, you will easily bring about self-transformation and world transformation. Continue to add the word “special” to every situation. By doing this, you will attain your goal or destination of attaining such perfection. 2. Do you always keep yourself aware of the Father and the inheritance? By having an elevated awareness, you experience an elevated stage. The basis of your stage is your awareness. If your awareness is weak, your stage also becomes weak. Let your awareness always be powerful. That powerful awareness is, “I belong to the Father and the Father belongs to me.” By having this awareness, your stage will remain powerful and you will also make others powerful. So, always pay special attention to your awareness. Let there constantly be a powerful awareness and a powerful stage through which powerful service automatically takes place. Let all three – your awareness, stage and service – be powerful. When you put on a switch, there is light, and when you switch it off, it becomes dark. In the same way, awareness is also a switch: if the switch of your awareness is weak, then your stage is also weak. Always pay attention to the switch of your awareness. When you do this, there is benefit for yourself and everyone. You have a new birth and so let there be a new awareness. Everything of the old awareness has now finished. Therefore, constantly continue to experience success by using this method. 3. Do all of you consider yourselves to be fortunate? To come to the land of blessings is great fortune. The fortune you have received is to reach the land of blessings, but you can make this fortune as elevated as you want. The elevated directions are the pen with which to draw the line of your fortune. The more you continue to make the line of your fortune elevated, the more elevated you will become. This elevated time is the only time out of the whole cycle when you can create your line of fortune. You have reached such a place at such a time. So, you are not those who are happy with just a little. When the Bestower is giving, why should those who are receiving get tired? It is having remembrance of the Father alone that makes you elevated. To remember the Father means to become pure. You have a relationship for birth after birth and so is remembrance difficult? Simply remember Baba with love and with a relationship. When you love someone, it is not possible for you not to remember that one. In fact, even if you tried to forget that one, you would still remember him. Achcha.

Blessing: May you give a glimpse of the sparkle of contentment on your forehead and become an image that grants visions.
The sparkle of contentment always continues to sparkle on the foreheads of those who always stay content. If any unhappy soul sees them, that soul also becomes happy and their unhappiness finishes. Everyone is automatically attracted to those who have the treasure of the happiness of contentment. Their faces of happiness become living boards that give an introduction of the One who made them. So, become such jewels of contentment who stay content and make others content, so that many can have visions.
Slogan: It is the duty of those who hurt others to hurt and it is your duty to save yourselves.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 2 AUGUST 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 2 August 2020

Murli Pdf for Print : – 

02-08-20
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 01-03-86 मधुबन

होलीहंस बुद्धि, वृत्ति दृष्टि और मुख

आज बापदादा सर्व होली हंसों की सभा देख रहे हैं। यह साधारण सभा नहीं है। लेकिन रूहानी होली हंसों की सभा है। बापदादा हर एक होली हंस को देख रहे हैं कि सभी कहाँ तक होली हंस बने हैं। हंस की विशेषता अच्छी तरह से जानते हो? सबसे पहले हंस बुद्धि अर्थात् सदा हर आत्मा के प्रति श्रेष्ठ और शुभ सोचने वाले। होली हंस अर्थात् कंकर और रत्न को अच्छी तरह परखने वाले और फिर धारण करने वाले। पहले हर आत्मा के भाव को परखने वाले और फिर धारण करने वाले। कभी भी बुद्धि में किसी भी आत्मा के प्रति अशुभ वा साधारण भाव धारण करने वाले न हो। सदा शुभ भाव और शुभ भावना धारण करना। भाव जानने से कभी भी किसी के साधारण स्वभाव या व्यर्थ स्वभाव का प्रभाव नहीं पड़ेगा। शुभ भाव, शुभ भावना, जिसको भाव स्वभाव कहते हो, जो व्यर्थ है उनको बदलने का है। बापदादा देख रहे हैं – ऐसे हंस बुद्धि कहाँ तक बने हैं? ऐसे ही हंस वृत्ति अर्थात् सदा हर आत्मा के प्रति श्रेष्ठ कल्याण की वृत्ति। हर आत्मा के अकल्याण की बातें सुनते, देखते भी अकल्याण को कल्याण की वृत्ति से बदल लेना – इसको कहते हैं होली हंस वृत्ति। अपने कल्याण की वृत्ति से औरों को भी बदल सकते हो। उनके अकल्याण की वृत्ति को अपने कल्याण की वृत्ति से बदल लेना – यही होली हंस का कर्तव्य है। इसी प्रमाण दृष्टि में सदा हर आत्मा के प्रति श्रेष्ठ शुद्ध स्नेह की दृष्टि हो। कैसा भी हो लेकिन अपनी तरफ से सबके प्रति रूहानी आत्मिक स्नेह की दृष्टि धारण करना। इसको कहते हैं होली हंस दृष्टि। इसी प्रकार बोल में भी पहले सुनाया है बुरा बोल अलग चीज है। वह तो ब्राह्मणों का बदल गया है लेकिन व्यर्थ बोल को भी होली हंस मुख नहीं कहेंगे। मुख भी होली हंस मुख हो! जिसके मुख से कभी व्यर्थ न निकले, इसको कहेंगे हंस मुख स्थिति। तो होली हंस बुद्धि, वृत्ति, दृष्टि और मुख। जब यह पवित्र अर्थात् श्रेष्ठ बन जाते हैं तो स्वत: ही होली हंस की स्थिति का प्रत्यक्ष प्रभाव दिखाई देता है। तो सभी अपने आपको देखो कि कहाँ तक सदा होली हंस बन चलते-फिरते हैं? क्योंकि स्व-उन्नति का समय ज्यादा नहीं रहा है, इसलिए अपने आपको चेक करो और चेन्ज करो।

इस समय का परिवर्तन बहुत काल के परिवर्तन वाली गोल्डन दुनिया के अधिकारी बनायेगा। यह ईशारा बापदादा ने पहले भी दिया है। स्व की तरफ डबल अन्डर लाइन से अटेन्शन सभी का है? थोड़े समय का अटेन्शन है और बहुत काल के अटेन्शन के फलस्वरुप श्रेष्ठ प्राप्ति की प्रालब्ध है इसलिए यह थोड़ा समय बहुत श्रेष्ठ सुहावना है। मेहनत भी नहीं है सिर्फ जो बाप ने कहा और धारण किया। और धारण करने से प्रैक्टिकल स्वत: ही होगा। होली हंस का काम ही है धारण करना। तो ऐसे होली हंसों की यह सभा है ना। नॉलेजफुल बन गये। व्यर्थ वा साधारण को अच्छी तरह से समझ गये हो। तो समझने के बाद कर्म में स्वत: ही आता है। वैसे भी साधारण भाषा में यही कहते हो ना कि अभी मेरे को समझ में आया। फिर करने के बिना रह नहीं सकते हो। तो पहले यह चेक करो कि साधारण अथवा व्यर्थ क्या है? कभी व्यर्थ या साधारण को ही श्रेष्ठ तो नहीं समझ लेते? इसलिए पहले-पहले मुख्य है होली हंस बुद्धि। उसमें स्वत: ही परखने की शक्ति आ ही जाती है क्योंकि व्यर्थ संकल्प और व्यर्थ समय तब जाता जब उसकी परख नहीं रहती कि यह राइट है या रांग है। अपने व्यर्थ को, रांग को राइट समझ लेते हैं तब ही ज्यादा व्यर्थ समय जाता है। है व्यर्थ लेकिन समझते हैं कि मैं समर्थ, राइट सोच रही हूँ। जो मैंने कहा वही राइट है। इसी में परखने की शक्ति न होने के कारण मन की शक्ति, समय की शक्ति, वाणी की शक्ति सब चली जाती है। और दूसरे से मेहनत लेने का बोझ भी चढ़ता है। कारण? क्योंकि होली हंस बुद्धि नहीं बने हैं। तो बापदादा सभी होली हंसों को फिर से यही इशारा दे रहे हैं कि उल्टे को उल्टा नहीं करो। यह है ही उल्टा, यह नहीं सोचो लेकिन लेकिन उल्टे को सुल्टा कैसे करूं यह सोचो। इसको कहा जाता है कल्याण की भावना। श्रेष्ठ भाव, शुभ भावना से अपने व्यर्थ भाव-स्वभाव और दूसरे के भाव-स्वभाव को परिवर्तन करने की विजय प्राप्त करेंगे! समझा। पहले स्व पर विजयी फिर सर्व पर विजयी, फिर प्रकृति पर विजयी बनेंगे। यह तीनों विजय आपको विजय माला का मणका बनायेंगी। प्रकृति में वायुमण्डल, वायब्रेशन या स्थूल प्रकृति की समस्यायें सब आ जाती हैं। तो तीनों पर विजय हो? इसी आधार से विजय माला का नम्बर अपना देख सकते हो, इसलिए नाम ही वैजयन्ती माला रखा है। तो सभी विजयी हो? अच्छा!

आज आस्ट्रेलिया वालों का टर्न है। आस्ट्रेलिया वालों को मधुबन से भी गोल्डन चान्सलर बनने का चांस मिलता है क्योंकि सभी को आगे रखने का चांस देते हो, यह विशेषता है। औरों को आगे रखना यह चांस देना अर्थात् चान्सलर बनना है। चांस लेने वाले को, चांस देने वाले को दोनों को चांसलर कहते हैं। बाप-दादा सदा हर बच्चे की विशेषता देखते हैं और वर्णन करते हैं। आस्ट्रेलिया में पाण्डवों को सेवा का चांस विशेष मिला हुआ है। ज्यादा सेन्टर्स भी पाण्डव सम्भालते हैं। शक्तियों ने पाण्डवों को चांस दिया है। आगे रखने वाले सदैव आगे रहते ही हैं। यह भी शक्तियों की विशालता है। लेकिन पाण्डव अपने को सदा निमित्त समझ सेवा में आगे बढ़ रहे हो ना। सेवा में निमित्त भाव ही सेवा की सफलता का आधार है। बाप-दादा तीन शब्द कहते हैं ना, जो साकार द्वारा भी लास्ट में उच्चारण किये। निराकारी, निर्विकारी और निरहंकारी। यह तीनों विशेषतायें निमित्त भाव से स्वत: ही आती हैं। निमित्त भाव नहीं तो इन तीनों विशेषताओं का अनुभव नहीं होता। निमित्त भाव अनेक प्रकार का मैं-पन, मेरा-पन सहज ही खत्म कर देता है। न मैं न मेरा। स्थिति में जो हलचल होती है वह इसी एक कमी के कारण। सेवा में भी मेहनत करनी पड़ती और अपनी उड़ती कला की स्थिति में भी मेहनत करनी पड़ती। निमित्त हैं अर्थात् निमित्त बनाने वाला सदा याद रहे। तो इसी विशेषता से सदा सेवा की वृद्धि करते हुए आगे बढ़ रहे हो ना। सेवा का विस्तार होना, यह भी सेवा की सफलता की निशानी है। अभी अचल-अडोल स्थिति के अच्छे अनुभवी हो गये हो। समझा- आस्ट्रेलिया अर्थात् कुछ एकस्ट्रा है, जो औरों में नहीं है। आस्ट्रेलिया में और वैरायटी गुजराती आदि नहीं हैं। चैरिटी बिगन्स एट होम का काम ज्यादा किया है। हमजिन्स को जगाया है। कुमार-कुमारियों का अच्छा कल्याण हो रहा है। इस जीवन में अपने जीवन का श्रेष्ठ फैंसला करना होता है। अपनी जीवन बना ली तो सदा के लिए श्रेष्ठ बन गये। उल्टी सीढ़ी चढ़ने से बच गये। बापदादा खुश होते हैं कि एक दो से अनेक दीपक जग दीपमाला बना रहे हैं। उमंग-उत्साह अच्छा है। सेवा में बिजी रहने से उन्नति अच्छी कर रहे हैं।

एक तो निमित्त भाव की बात सुनाई, दूसरा जो सेवा के निमित्त बनते उन्हों के लिए स्व उन्नति वा सेवा की उन्नति प्रति एक विशेष स्लोगन सेफ्टी का साधन है। हम निमित्त बने हुए जो करेंगे हमें देख सब करेंगे क्योंकि सेवा के निमित्त बनना अर्थात् स्टेज पर आना। जैसे कोई पार्टधारी जब स्टेज पर आता है तो कितना अटेन्शन रखता है। तो सेवा के निमित्त बनना अर्थात् स्टेज पर पार्ट बजाना। स्टेज तरफ सभी की नज़र होती है। और जो जितना हीरो एक्टर होता उस पर ज्यादा नज़र होती है। तो यह स्लोगन सेफ्टी का साधन है, इससे स्वत: ही उड़ती कला का अनुभव करेंगे। वैसे तो चाहे सेन्टर पर रहते वा कहां भी रह कर सेवा करते। सेवाधारी तो सब हैं। कई अपने निमित्त स्थानों पर रहकर सेवा का चांस लेते वह भी सेवा की स्टेज पर हैं। सेवा के सिवाए अपने समय को व्यर्थ नहीं गँवाना चाहिए। सेवा का भी खाता बहुत जमा होता है। सच्ची दिल से सेवा करने वाले अपना खाता बहुत अच्छी तरह से जमा कर रहे हैं। बापदादा के पास हर एक बच्चे का आदि से अन्त तक सेवा का खाता है और आटोमेटिकली उसमें जमा होता रहता है। एक-एक का एकाउन्ट नहीं रखना पड़ता है। एकाउन्ट रखने वालों के पास बहुत फाइल होती हैं। बाप के पास स्थूल फाइल कोई नहीं है। एक सेकेण्ड में हर एक का आदि से अभी तक का रजिस्टर सेकेण्ड में इमर्ज होता है। आटोमेटिक जमा होता रहता है। ऐसे कभी नहीं समझना हमको तो कोई देखता नहीं, समझता नहीं। बापदादा के पास तो जो जैसा है, जितना करता है, जिस स्टेज से करता है सब जमा होता है। फाइल नहीं है लेकिन फाइनल है। आस्ट्रेलिया में शक्तियों ने बाप का बनने की, बाप को पहचान बाप से स्नेह निभाने में हिम्मत बहुत अच्छी दिखाई है। हलचल की भूल होती है वह तो कई स्थान के, धरनी के या टोटल पिछले जीवन के संस्कार कारण हलचल आती है। उनको भी पार कर स्नेह के बन्धन में आगे बढ़ते रहते हैं इसलिए बापदादा शक्तियों की हिम्मत पर मुबारक देते हैं। एक बल एक भरोसा आगे बढ़ा रहा है। तो शक्तियों की हिम्मत और पाण्डवों का सेवा का उमंग दोनों पंख पक्के हो गये हैं। सेवा के क्षेत्र में पाण्डव भी महावीर बन आगे बढ़ रहे हैं। हलचल को पार करने में होशियार हैं। सभी का चित्र वही है। पाण्डव मोटे ताजे लम्बे-चौड़े दिखाते हैं क्योंकि स्थिति ऐसी ऊंची और मजबूत है इसलिए पाण्डव ऊंचे और बहादुर दिखाये हैं। आस्ट्रेलिया वाले रहमदिल भी ज्यादा है भटकती हुई आत्माओं के ऊपर रहमदिल बन सेवा में आगे बढ़ रहे हैं। वे कभी सेवा के बिना रह नहीं सकते। बापदादा को बच्चों के आगे बढ़ने की विशेषता पर सदा खुशी है। विशेष खुशनसीब हो। हर बच्चे के उमंग-उत्साह पर बाप-दादा को हर्ष होता है। कैसे हर एक श्रेष्ठ लक्ष्य से आगे बढ़ रहे हैं और बढ़ते रहेंगे। बापदादा सदैव विशेषता को ही देखते हैं। हर एक, एक दो से प्यारा लगता है। आप भी एक दो को इस विधि से देखते हो ना! जिसको भी देखो एक दो से प्रिय लगे क्योंकि 5 हजार वर्ष के बाद बिछुड़े हुए आपस में मिले हैं तो कितने प्यारे लगते हैं। बाप से प्यार की निशानी यह है कि सभी ब्राह्मण आत्मायें प्यारी लगेंगी। हर ब्राह्मण प्यारा लगना माना बाप से प्यार है। माला में एक दो के सम्बन्ध में तो ब्राह्मण ही आयेंगे। बाप तो रिटायर हो देखेंगे इसलिए बाप से प्यार की निशानी को सदा अनुभव करो। सभी बाप के प्यारे हैं तो हमारे भी प्यारे हैं। अच्छा।

पार्टियों से:-

1- सभी अपने को विशेष आत्मायें समझते हो? विशेष आत्मा हैं, विशेष कार्य के निमित्त हैं और विशेषतायें दिखानी हैं – ऐसे सदा स्मृति में रहे। विशेष स्मृति साधारण स्मृति को भी शक्तिशाली बना देती है। व्यर्थ को भी समाप्त कर देती है। तो सदा यह विशेष शब्द याद रखना। बोलना भी विशेष, देखना भी विशेष, करना भी विशेष, सोचना भी विशेष। हर बात में यह विशेष शब्द लाने से स्वत: ही बदल जायेंगे। और इसी स्मृति से स्व परिवर्तन विश्व परिवर्तन सहज हो जायेगा। हर बात में विशेष शब्द ऐड करते जाना। इसी से जो सम्पूर्णता को प्राप्त करने का लक्ष्य है, मंजिल है उसको प्राप्त कर लेंगे।

2- सदा बाप और वर्से की स्मृति में रहते हो? श्रेष्ठ स्मृति द्वारा श्रेष्ठ स्थिति का अनुभव होता है? स्थिति का आधार है स्मृति। स्मृति कमजोर है तो स्थिति भी कमजोर हो जाती है। स्मृति सदा शक्तिशाली रहे। वह शक्तिशाली स्मृति है “मैं बाप का और बाप मेरा।” इसी स्मृति से स्थिति शक्तिशाली रहेगी और दूसरों को भी शक्तिशाली बनायेंगे। तो सदा स्मृति के ऊपर विशेष अटेन्शन रहे। समर्थ स्मृति, समर्थ स्थिति, समर्थ सेवा स्वत: होती रहे। स्मृति, स्थिति और सेवा तीनों ही समर्थ हों। जैसे स्विच आन करो तो रोशनी हो जाती, आफ करो तो अंधियारा हो जाता, ऐसे ही यह स्मृति भी एक स्विच है। स्मृति का स्विच अगर कमजोर है तो स्थिति भी कमजोर है। सदा स्मृति रूपी स्विच का अटेन्शन। इसी से ही स्वयं का और सर्व का कल्याण है। नया जन्म हुआ तो नई स्मृति हो। पुरानी स्मृतियां सब समाप्त। तो इसी विधि से सदा सिद्धि को प्राप्त करते चलो।

3- सभी अपने को भाग्यवान समझते हो? वरदान भूमि पर आना यह महान भाग्य है। एक भाग्य वरदान भूमि पर पहुँचने का मिल गया, इसी भाग्य को जितना चाहो श्रेष्ठ बना सकते हो। श्रेष्ठ मत ही भाग्य की रेखा खींचने की कलम है। इसमें जितना भी अपनी श्रेष्ठ रेखा बनाते जायेंगे उतना श्रेष्ठ बन जायेंगे। सारे कल्प के अन्दर यही श्रेष्ठ समय भाग्य की रेखा बनाने का है। ऐसे समय पर और ऐसे स्थान पर पहुँच गये। तो थोड़े में खुश होने वाले नहीं। जब देने वाला दाता दे रहा है तो लेने वाला थके क्यों। बाप की याद ही श्रेष्ठ बनाती है। बाप को याद करना अर्थात् पावन बनना। जन्म-जन्म का सम्बन्ध है तो याद क्या मुश्किल है? सिर्फ स्नेह से और सम्बन्ध से याद करो। जहाँ स्नेह होता है वहाँ याद न आवे, यह हो नहीं सकता। भूलने की कोशिश करो तो भी याद आता है। अच्छा।

वरदान:- मस्तक द्वारा सन्तुष्टता के चमक की झलक दिखाने वाले साक्षात्कारमूर्त भव
जो सदा सन्तुष्ट रहते हैं, उनके मस्तक से सन्तुष्टता की झलक सदा चमकती रहती है, उन्हें कोई भी उदास आत्मा यदि देख लेती है तो वह भी खुश हो जाती है, उसकी उदासी मिट जाती है। जिनके पास सन्तुष्टता की खुशी का खजाना है उनके पीछे स्वत: ही सब आकर्षित होते हैं। उनका खुशी का चेहरा चैतन्य बोर्ड बन जाता है जो अनेक आत्माओं को बनाने वाले का परिचय देता है। तो ऐसी सन्तुष्ट रहने और सर्व को सन्तुष्ट करने वाली सन्तुष्ट मणियां बनो जिससे अनेकों को साक्षात्कार हो।
स्लोगन:- चोट लगाने वाले का काम है चोट लगाना और आपका काम है अपने को बचा लेना।

TODAY MURLI 2 AUGUST 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 2 August 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 1 August 2019:- Click Here

02/08/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, do the service of purifying the elements with yoga because it is only when the elements have become pure that the deities will set foot in this world.
Question: There cannot be any type of peacelessness in your new kingdom. Why?
Answer: 1. Because you will have received that kingdom as your inheritance from the Father. 2. The Father, the Bestower of Blessings, gives blessings and the inheritance now and, for this reason, there cannot be peacelessness there. When you belong to the Father, you claim your whole inheritance.

Om Shanti. You children know whose children you are. He is called the true Lord and Master. This is why, nowadays, you children are also called the children of the Lord and Master. There is a saying about truth: Eat that which is real and wear that which is real. Although this saying has been created by human beings, the Father sits here and explains the meaning of it. You children know that the Father is the Highest on High, the One who is praised a great deal and who is also called the Creator. His first creation is you children; you are the children of that Father. All souls reside with the Father. That is called the Father’s home, the sweet home. This is not the home. You children know that He is our sweetest Father. The land of peace is our sweet home and then the golden age is also called our sweet home because there is peace in every home there. Here, there is peacelessness in the home of physical mothers and fathers and peacelessness in the world. There, there is peace in the home as well as throughout the world. The golden age is called a small new world. This old world is so huge. There is peace and happiness in the golden age. There is no question of chaos there because you will have received your inheritance of peace from the unlimited Father. Gurus and saints give blessings: May you have sons! May you have a long life! Those blessings that they give are not new. You automatically receive those as your inheritance from the Father. The Father has now reminded you children of this. That parlokik Father is the One whom people of all religions remember on the path of devotion when it is the world of sorrow. This world is old and impure. In the new world, there is happiness; there is no trace of peacelessness. You children now have to become pure and virtuous. Otherwise, you will have to experience a great deal of punishment. Dharamraj, the One who enables you to settle all karmic accounts, is also with the Father. There will be the Tribunal. There will definitely be punishment for sins. Those who make good effort will not experience punishment. You receive punishment for your sins and that is also called the suffering of karma. This is the foreign kingdom of Ravan and there is limitless sorrow within it. There is limitless happiness in the kingdom of Rama. You explain to many, but some are able to understand instantly whereas others take time to understand. If they understand less, you can understand that they started performing devotion later. Those who have done devotion from the beginning will understand knowledge quickly because they have to take a number ahead. You souls know that you come here from your sweet home. There is silence, “movieandtalkie. After children go into trance, they relate that everything there is “movie”. Trance has no connection with the path of knowledge. The main thing is to consider yourselves to be souls and remember the Father, that’s all; nothing else. The Father is incorporeal and His children, that is, souls in these bodies, are also incorporeal. No other question arises. The love of souls is for the one Supreme Father, the Supreme Soul. Everyone’s body is impure, and so you cannot have love for impure bodies. Souls may become pure, but their bodies are impure. Bodies do not become pure in this impure world. Souls have to become pure here; only then will these old bodies be destroyed. Souls are imperishable. The duty of souls is to remember the unlimited Father and become pure. When souls are pure, they need pure bodies and those will be received in the new world. Let souls become pure! Souls have to have yoga with the one Supreme Father, the Supreme Soul, that’s all. This impure body must not even be touched. The Father is speaking to you souls. These matters have to be understood. From the golden age to the iron age, you have been hanging on to your bodies. Both souls and bodies are pure there. You do not indulge in vice there and so neither souls nor bodies become vicious. There are the Vallabhacharis (a sect) who do not allow their bodies to be touched. You know that those souls are not viceless nor are they pure. The Vallabhachari sect considers themselves to belong to a high clan; they do not allow their bodies to be touched. They do not understand that they are vicious and impure and that their bodies have been created through corruption. The Father comes and explains these aspects. When souls become pure, they have to change their bodies. Your body can only become pure when the five elements become pure. In the golden age, the five elements are pure, and so the bodies are also pure. Deities cannot set foot in this impure world or have impure bodies. Both souls and their bodies are pure. This is why they only set foot in the golden age. This is an impure world. Souls remember the parlokik Father, the Supreme Soul. One is your physical father and the other is your bodiless Father. The bodiless Father is remembered because you definitely receive such an inheritance of happiness from Him. This is why you cannot stay without remembering Him. Although you have now become tamopradhan, you still definitely remember that Father. However, people receive wrong teachings that say God is omnipresent. They then become confused about human beings only becoming human beings. The Father comes and explains all of those mistakes. The Father only gives the one mantra of Manmanabhav! The meaning of this is: Consider yourself to be a soul and remember the Father. Only have this concern, that’s all. It is through this that you will be able to become pure. Deities are pure. The Father now comes and makes you pure again like them. He keeps your aim and objective in front of you. A sculptor is straight away able to create a sculpture of a human being by looking at his face. Those are non-living statues, but it is as though that person is sitting in front of them in the living form. Here, the Father says to you: You have to become living Lakshmi and Narayans. How will you become those? You will become deities from human beings through this study and through purity. This is the school to change from humans into deities. Those sculptors create many sculptures; that is called art. They create an identical face. Here, there is no question of an identical face. Those are non-living images whereas you will become this naturally in the living form there. The bodies of the five elements will be alive. Those non-living images have been created by human beings. They cannot be identical to the deities because a photograph cannot be taken of deities. Although they have a vision of them in trance, they cannot take their photograph. They would say that they had a vision of them but they themselves are not able to create that image; nor can anyone else. You yourselves can only become like that when you finish taking knowledge from the Father. Only then will you become identical to what you were in the previous cycle. This is such a wonderful, natural drama! The Father sits here and explains to you the wonderful things of nature. Human beings don’t even think about these matters. They go in front of the deity idols and bow their heads. Although they understand that they used to rule that kingdom, they do not know when. They don’t know anything about when they will come again or what they will do when they come. You know that those who belonged to the sun and moon dynasties have been and gone. They will become exactly the same again by studying this knowledge. This is a wonder. Therefore, the Father now explains: By making such effort you will become the same deities again. You will carry on with the same activity that you did previously in the golden and silver ages. This is such wonderful knowledge! This knowledge can only remain in your intellects when there is cleanliness in your hearts. These aspects cannot remain in anyone else’s intellect; you need to make effort for this. You cannot receive fruit without making effort. The Father continues to inspire you to make effort. Even though everything happens according to the drama, you still have to make effort. You must not just sit down and think: If it is in the drama I will be able to make effort. There are many who have such crazy thoughts as: There will surely be effort if it is in my fortune. Ah, but it is you who have to make the effort! There is the effort and then the reward. Human beings ask: Which is greater, the effort or the reward? Reward is greater but effort is said to be greater because it is through that that your reward is created. It is only by making effort that every human being receives everything. There are some who have such stone intellects that they give this a wrong meaning. It is understood that this is not in their fortune; they fall apart. Here, you children are inspired to make so much effort. You are given explanations day and night. You definitely have to reform your character. The number one character is to be pure. Deities are pure anyway. It is when they fall that their character is spoilt and they become completely impure. You now understand that your character was A1. Then you fell completely. Everything depends on purity. It is in this that there is great difficulty. People’s eyes deceive them a great deal because this is the kingdom of Ravan. There, your eyes do not deceive you. You receive the third eye of knowledge. This is why it is said: Religion is might. The Almighty Authority Father comes and establishes this deity religion. It is souls that do everything, but they do it through human forms. That Father is the Ocean of Knowledge. His praise is totally separate from the praise of the deities. So, why would you not remember such a Father? He is called the knowledge-full One, the Seed. Why is He called the Truth, the Living Being and the Embodiment of Bliss? The Seed of the tree is aware of the tree emerging from Him. However, those seeds are non-living. It is as though the souls in those are non-conscious, whereas souls of human beings are conscious. A living soul can also be called an ocean of knowledge. The tree grows from small to large, so there definitely is a soul, but it is unable to speak. There is so much praise of the Supreme Soul; He is the Ocean of Knowledge. This praise does not belong to souls. This praise is only sung of the Supreme Soul. He is called Ishwar etc. His true name is the Supreme Father, the Supreme Soul. “Param” means Supreme. The praise people sing of Him is very powerful. Now, day by day, His praise is decreasing because their intellects were sato at first, then they became rajo and they have now become tamopradhan. The Father comes and explains all of these things. I come every 5000 years to make the old world new. It is remembered that the golden age is the truth, and whatever happens there is the truth (written in the Granth Sahib – the holy book of the Sikhs). Some good versions are written because they are not so impure. Those who come later are not so impure. The people of Bharat were completely satopradhan and they are the ones who have become the most tamopradhan at the end of their many births. This cannot be said about the founders of religions. Neither do they become as satopradhan, nor do they become as tamopradhan. They neither experience as much happiness nor as much sorrow. Whose intellects have become the most tamopradhan? Out of all the religions, it is those who were at first deities who have fallen the most. People sing praise of Bharat because it is very ancient. If you think about it, the Bharat of this time has fallen a great deal. The rise and fall of Bharat is the rise and fall of the deities. You have to use your intellects to understand this. We experienced a great deal of happiness when we were satopradhan. Then we also experience so much sorrow because we are tamopradhan. There are four main religions: Deityism, Islam, Buddhism and Christianity. Expansion has taken place through them. The people of Bharat do not know which religion they belong to. Because of not knowing their religion, they leave their religion. In fact, their religion is the main one but they have forgotten it. Those who are wise and sensible understand that those people have no honesty in their religion. Otherwise, what was Bharat before and what has it become now? The Father sits here and explains: Children, what were you? He sits here and explains the whole history. You were deities. You ruled for half a cycle and then, after half a cycle, your actions and your religion became corrupt in the kingdom of Ravan. You are now once again becoming those who will belong to the deity community. God speaks: Only to you children does the Father explain every cycle and enable you to belong to God’s community. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. With cleanliness in your heart, imbibe the Father’s wonderful knowledge into your life. Create an elevated reward by making effort. Don’t just say “Drama!” and stop making effort.
  2. In order to be saved from being deceived your criminal eyes in the kingdom of Ravan, practice looking with your third eye of knowledge. Imbibe purity, which is the number one character.
Blessing: May you be truthful and honest and with your foundation of truth give the experience of divinity through your behaviour and your face.
Many souls in the world say and think of themselves as honest and truthful. However, complete honesty can only be based on purity. If there isn’t purity, there cannot be truthfulness or honesty all the time. The foundation of truth is purity and the practical proof of truth is divinity on your face and in your behaviour. On the basis of purity, there is naturally and easily the form of truth. When both the soul and body are pure, you can then be said to be completely honest and truthful, that is, a deity full of divinity.
Slogan: Remain busy in unlimited service and there will naturally be unlimited disinterest.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 2 AUGUST 2019 : AAJ KI MURLI

 

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 2 August 2019

To Read Murli 1 August 2019 :- Click Here
02-08-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – योग द्वारा तत्वों को पावन बनाने की सेवा करो क्योंकि जब तत्व पावन बनेंगे तब इस सृष्टि पर देवतायें पाँव रखेंगे”
प्रश्नः- तुम्हारी नई राजधानी में किसी भी प्रकार की अशान्ति नहीं हो सकती है – क्यों?
उत्तर:- 1. क्योंकि वह राजाई तुम्हें बाप द्वारा वर्से में मिली हुई है, 2. वरदाता बाप ने तुम बच्चों को अभी ही वरदान अर्थात् वर्सा दे दिया है, जिस कारण वहाँ अशान्ति हो नहीं सकती। तुम बाप का बनते हो तो सारा वर्सा ले लेते हो।

ओम् शान्ति। बच्चे तो जानते हैं, जिसके हम बच्चे हैं, उनको सच्चा साहेब भी कहते हैं इसलिए आजकल तुम बच्चों को साहेबज़ादे भी कहते हैं। सच के ऊपर भी एक पौढ़ी है – सच खाना, सच पहनना। भल यह मनुष्यों की बनाई हुई है परन्तु यह बाप बैठ समझाते हैं। बच्चे जानते हैं ऊंचे ते ऊंचा बाप ही है जिसकी बहुत महिमा है, जिसको रचयिता भी कहते हैं। पहले-पहले है बच्चों की रचना। बाप के बच्चे हैं ना। सब आत्मायें बाप के साथ रहती हैं। उनको कहा जाता है बाप का घर, स्वीट होम। यह कोई होम नहीं। बच्चों को मालूम है वह हमारा स्वीटेस्ट बाप है। स्वीट होम है शान्तिधाम। फिर सतयुग भी स्वीट होम है क्योंकि वहाँ हर घर में शान्ति रहती है। यहाँ घर में लौकिक माँ-बाप के पास भी अशान्ति है तो दुनिया में भी अशान्ति है। वहाँ तो घर में भी शान्ति तो सारी दुनिया में भी शान्ति रहती है। सतयुग को नई छोटी दुनिया कहेंगे। यह पुरानी कितनी बड़ी दुनिया है। सतयुग में सुख-शान्ति है। कोई हंगामे की बात नहीं क्योंकि बेहद के बाप से शान्ति का वर्सा मिला हुआ है। गुरू गोसाई आशीर्वाद देते हैं – पुत्रवान भव, आयुश्वान भव। यह कोई नई आशीर्वाद नहीं देते हैं। बाप से तो ऑटोमेटिकली वर्सा मिलता है। अब बाप ने तुम बच्चों को स्मृति दिलाई है। जिस पारलौकिक बाप को भक्ति मार्ग में सभी धर्म वाले याद करते हैं, जब दु:ख की दुनिया होती है। यह है ही पतित पुरानी दुनिया। नई दुनिया में सुख होता है, अशान्ति का नाम नहीं। अभी तुम बच्चों को तो पवित्र गुणवान बनना है। नहीं तो बहुत सजायें खानी पड़ेंगी। बाप के साथ-साथ धर्मराज भी है, हिसाब-किताब चुक्तू कराने वाला। ट्रिब्युनल बैठती है ना। पापों की सजायें तो जरूर मिलनी हैं। जो अच्छी रीति मेहनत करते हैं, वह थोड़ेही सजायें खायेंगे। पाप की सजा मिलती है, जिसको कर्मभोग कहा जाता है। यह तो रावण का पराया राज्य है, इसमें अपार दु:ख हैं। राम राज्य में अपार सुख होते हैं। तुम समझाते तो बहुतों को हो फिर कोई झट समझ जाते हैं और कोई देर से समझते हैं। कम समझते हैं तो समझो इसने भक्ति देरी से की है। जिसने शुरू से भक्ति की है, वह ज्ञान को भी जल्दी समझ लेंगे क्योंकि उनको आगे नम्बर में जाना है।

तुम जानते हो हम आत्मायें स्वीट होम से यहाँ आई हैं। साइलेन्स, मूवी, टॉकी है ना। बच्चे ध्यान में जाते हैं तो सुनाते हैं कि वहाँ मूवी चलती है। उनका कोई ज्ञान मार्ग से तैलुक नहीं। मुख्य बात है अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो, बस और कोई बात नहीं। बाप निराकार, बच्चे भी यानी आत्मा भी इस शरीर में निराकार है, और कोई बात ही नहीं उठती। आत्मा का लॅव तो एक परमपिता परमात्मा के साथ ही है। शरीर तो सब पतित हैं। तो पतित शरीर से लव हो न सके। आत्मा भल पावन बन जाती है परन्तु शरीर तो पतित है। पतित दुनिया में शरीर पावन बनता ही नहीं। आत्मा को तो पावन यहाँ बनना है, तब इन पुराने शरीरों का विनाश होगा। आत्मा तो अविनाशी है। आत्मा का काम है बेहद के बाप को याद कर पावन बनना। आत्मा पवित्र है तो शरीर भी पवित्र चाहिए। वह मिलेगा नई दुनिया में। आत्मा भल पावन बन जाये, आत्मा को एक परमपिता परमात्मा के साथ ही योग लगाना है। बस, इस पतित शरीर को तो टच भी नहीं करना है। यह आत्माओं से बाप बात करते हैं। समझने की बातें हैं ना। सतयुग से लेकर कलियुग तक शरीरों के साथ लटके हो। भल वहाँ आत्मा और शरीर दोनों पवित्र हैं, वहाँ विकार में जाते नहीं, जिससे शरीर या आत्मा विकारी बनें। वल्लभाचारी भी होते हैं, टच करने नहीं देते। तुम जानते हो उन्हों की आत्मा कोई निर्विकारी पवित्र नहीं होती। वह एक वल्लभाचारी पंथ है जो अपने को ऊंच कुल वाले समझते हैं, शरीर को भी टच करने नहीं देते हैं। यह नहीं समझते कि हम विकारी अपवित्र हैं, शरीर तो भ्रष्टाचार से पैदा हुआ है। यह बातें बाप आकर समझाते हैं। आत्मा पावन बनती जाती है तो फिर शरीर भी बदली करना पड़े। पावन शरीर तो तब बनें जब 5 तत्व भी पावन बन जायें। सतयुग में तत्व भी पवित्र होते हैं, तब शरीर भी पवित्र बनते हैं। देवतायें पतित शरीर में, पतित धरनी पर पैर नहीं रखते हैं। उनकी आत्मा और शरीर दोनों पवित्र, पावन होते हैं इसलिए वह सतयुग में ही पैर धरते हैं। यह है पतित दुनिया। आत्मा पारलौकिक बाप परमात्मा को याद करती है। एक है शारीरिक बाप, एक है अशरीरी बाप। अशरीरी बाप को याद करते हैं क्योंकि उनसे ऐसा सुख का वर्सा जरूर मिला है तो याद करने बिगर रह नहीं सकते। भल इस समय तमोप्रधान बने हैं, तो भी उस बाप को जरूर याद करते हैं। परन्तु यह फिर उल्टी शिक्षा मिलती है कि ईश्वर सर्वव्यापी है। फिर इस बात में भी मूंझ पड़ते हैं कि मनुष्य, मनुष्य ही बनता है। यह सब भूलें बाप आकर समझाते हैं। बाप एक ही मनमनाभव का मंत्र देते हैं, उनका भी अर्थ चाहिए। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। बस, यही धुन लगी रहे जिससे तुम पावन बन सकेंगे। देवतायें पवित्र हैं, अब बाप आकर फिर से ऐसा पवित्र बनाते हैं। सामने एम ऑब्जेक्ट रख देते हैं, जो बुत (मूर्ति) बनाने वाले होते हैं, मनुष्य की सूरत देख झट उनका बुत बना देते हैं। जैसेकि वह जीता जागता सामने बैठा है। वह तो जड़ बुत हो जाते हैं। यहाँ बाप तुमको कहते हैं – तुमको ऐसा चैतन्य लक्ष्मी-नारायण बनना है। कैसे बनेंगे? मनुष्य से देवता तुम इस पढ़ाई और प्योरिटी से बनेंगे। यह स्कूल है ही मनुष्य से देवता बनने का। वह जो बुत आदि बनाते हैं, उसको आर्ट कहा जाता है। हूबहू वही शक्ल आदि बनाते हैं इसमें हूबहू की तो बात ही नहीं। यह तो जड़ चित्र हैं, वहाँ तो तुम नैचुरल चैतन्य बनेंगे ना। 5 तत्वों का चैतन्य शरीर होगा। यह तो जड़ चित्र मनुष्यों का बनाया हुआ है। हूबहू तो हो न सके क्योंकि देवताओं का फ़ोटो तो निकल न सके। ध्यान में भल साक्षात्कार करते हैं परन्तु फ़ोटो निकल न सके। कहेंगे हमने ऐसा दीदार किया। चित्र तो न खुद, न कोई और बना सके। खुद ऐसा तब बनेंगे जब बाप से नॉलेज लेकर पूरी करेंगे, तब हूबहू कल्प पहले मिसल बनेंगे। यह कैसा कुदरती वन्डरफुल ड्रामा है। बाप बैठ यह कुदरती बातें समझाते हैं। मनुष्यों को तो यह बातें ख्याल में भी नहीं रहती हैं। उन्हों के आगे जाकर माथा टेकते हैं, समझते हैं, यह राज्य करके गये हैं। परन्तु कब? यह पता नहीं है। फिर कब आयेंगे वा क्या करेंगे, कुछ पता नहीं। तुम जानते हो सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी जो होकर गये हैं, वह हूबहू फिर से बनेंगे जरूर, इस नॉलेज से। वन्डर है ना! तो अब बाप समझाते हैं – ऐसा पुरूषार्थ करने से तुम सो देवता बनेंगे। एक्टिविटी वही चलेगी जो सतयुग-त्रेता में चली है। कितना वन्डरफुल ज्ञान है। यह बुद्धि में ठहरे भी तब जब दिल की सफाई हो। सबकी बुद्धि में यह बातें ठहर न सकें। मेहनत चाहिए। मेहनत बिगर कोई फल थोड़ेही मिल सकता है। बाप तो पुरूषार्थ कराते रहते हैं। भल ड्रामा अनुसार ही होता है परन्तु पुरूषार्थ तो करना होता है। ऐसे थोड़ेही बैठ जायेंगे – ड्रामा में होगा तो हमसे पुरूषार्थ चलेगा। ऐसे भी जंगली ख्यालात वाले बहुत होते हैं – हमारी तकदीर में होगा तो पुरूषार्थ जरूर चलेगा। अरे, पुरूषार्थ तो तुमको करना है। पुरूषार्थ और प्रालब्ध होती है। मनुष्य पूछते हैं पुरूषार्थ बड़ा या प्रालब्ध बड़ी? अब बड़ी तो प्रालब्ध होती है। परन्तु पुरूषार्थ को बड़ा रखा जाता है जिससे प्रालब्ध बनती है। हर एक मनुष्य मात्र को पुरूषार्थ से ही सब कुछ मिलता है। कोई ऐसे भी पत्थरबुद्धि हो पड़ते जो उल्टा उठा लेते हैं। समझा जाता है इनकी तकदीर में नहीं है। टूट पड़ते हैं। यहाँ बच्चों को कितना पुरूषार्थ कराते हैं। रात-दिन समझाते रहते हैं। अपने कैरेक्टर्स जरूर सुधारने हैं।

नम्बरवन कैरेक्टर है पावन बनना। देवता तो हैं ही पावन। फिर जब गिर पड़ते हैं, कैरेक्टर्स बिगड़ते हैं तो एकदम पतित बन जाते हैं। अभी तुम जानते हो हमारा तो ए वन कैरेक्टर था। फिर एकदम गिर पड़े। सारा मदार है पवित्रता पर, इसमें ही बहुत डिफीकल्टी होती है। मनुष्य की आंखें बहुत धोखा देती हैं क्योंकि रावण का राज्य है। वहाँ तो आंखें धोखा देती ही नहीं। ज्ञान का तीसरा नेत्र मिल जाता है इसलिए रिलीज़न इज माइट कहा जाता है। सर्वशक्तिमान् बाप ही आकर के यह देवी-देवता धर्म स्थापन करते हैं। भल करती तो सब आत्मा है परन्तु मनुष्य के रूप में करेगी। वह बाप है ज्ञान का सागर, देवताओं से इनकी महिमा बिल्कुल अलग है। तो ऐसे बाप को क्यों नहीं याद करेंगे। उन्हों को ही नॉलेजफुल, बीजरूप कहा जाता है। उनको सत् चित आनंद क्यों कहा जाता है? झाड़ का बीज है, उनको भी झाड़ का मालूम तो है ना। परन्तु वह है जड़ बीज। उनमें आत्मा जैसे जड़ है, मनुष्य में है चैतन्य आत्मा। चैतन्य आत्मा को ज्ञान का सागर भी कहा जाता है। झाड़ छोटे से बड़े होते हैं। तो जरूर आत्मा है परन्तु बोल नहीं सकती। परमात्मा की महिमा कितनी है, ज्ञान का सागर……. यह महिमा आत्मा की नहीं, परम आत्मा माना परमात्मा की गाई जाती है, फिर उनको ईश्वर आदि कहते हैं। असुल नाम है परमपिता परमात्मा। परम अर्थात् सुप्रीम। महिमा भी बड़ी भारी करते हैं। अभी दिन-प्रतिदिन महिमा भी कम होती है क्योंकि पहले बुद्धि सतो थी फिर रजो, तमोप्रधान बन जाती है। यह सब बातें बाप आकर समझाते हैं। मैं हर 5 हज़ार वर्ष बाद आकर पुरानी दुनिया को नई दुनिया बनाता हूँ। गायन भी है ना सतयुग आदि है भी सत, होसी भी सत….. कोई पौढ़ी अच्छी बनाई हुई है क्योंकि वह तो फिर भी इतने पतित नहीं हैं। पीछे आने वाले इतने पतित नहीं होते। भारतवासी ही बहुत सतोप्रधान थे, वही फिर बहुत जन्मों के अन्त में तमोप्रधान बने हैं, और धर्म स्थापकों के लिए ऐसे नहीं कहेंगे। वह न इतना सतोप्रधान बनते, न इतना तमोप्रधान बनना है। न बहुत सुख देखा है, न बहुत दु:ख देखेंगे। सबसे जास्ती तमोप्रधान बुद्धि किसकी बनी है? जो पहले-पहले देवता थे, वही सब धर्मों से जास्ती गिरे हैं। भल भारत की महिमा करते हैं क्योंकि बहुत पुराना है। विचार किया जाये तो इस समय भारत बहुत गिरा हुआ है। उत्थान और पतन भारत का ही है अर्थात् देवी-देवताओं का है। यह बुद्धि से काम लेना है। हमने सुख भी बहुत देखे हैं जब सतोप्रधान थे, फिर दु:ख भी बहुत देखे हैं क्योंकि तमोप्रधान हैं। मुख्य हैं ही 4 धर्म – डिटीज्म, इस्लामीज्म, बुद्धिज्म और क्रिश्चियनीज्म। बाकी इनसे वृद्धि होती गई है। इन भारतवासियों को तो पता ही नहीं पड़ता कि हम किस धर्म के हैं। धर्म का मालूम न होने कारण धर्म ही छोड़ देते हैं। वास्तव में सबसे मुख्य धर्म है यह। परन्तु अपने धर्म को भूल गये हैं। जो समझू सयाने हैं वह समझते हैं इन्हों का अपने धर्म में इमान (विश्वास) नहीं है। नहीं तो भारत क्या था, अभी क्या बना है! बाप बैठ समझाते हैं – बच्चे, तुम क्या थे! सारी हिस्ट्री बैठ समझाते हैं। तुम देवता थे, आधाकल्प राज्य किया फिर आधाकल्प के बाद रावण राज्य में तुम धर्म भ्रष्ट, कर्म भ्रष्ट बन गये। अभी फिर तुम दैवी सम्प्रदाय के बन रहे हो। भगवानुवाच, बाप कल्प-कल्प तुम बच्चों को ही समझाकर ईश्वरीय सम्प्रदाय बनाते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपने दिल की सफाई से बाप के वन्डरफुल ज्ञान को जीवन में धारण करना है, पुरूषार्थ से ऊंच प्रालब्ध बनानी है। ड्रामा कहकर ठहर नहीं जाना है।

2) रावण राज्य में क्रिमिनल आंखों के धोखे से बचने के लिए ज्ञान के तीसरे नेत्र से देखने का अभ्यास करना है। पवित्रता जो नम्बरवन कैरेक्टर है, उसे ही धारण करना है।

वरदान:- सत्यता के फाउण्डेशन द्वारा चलन और चेहरे से दिव्यता की अनुभूति कराने वाले सत्यवादी भव
दुनिया में अनेक आत्मायें अपने को सत्यवादी कहती वा समझती हैं लेकिन सम्पूर्ण सत्यता पवित्रता के आधार पर होती है। पवित्रता नहीं तो सदा सत्यता नहीं रह सकती। सत्यता का फाउण्डेशन पवित्रता है और सत्यता का प्रैक्टिकल प्रमाण चेहरे और चलन में दिव्यता होगी। पवित्रता के आधार पर सत्यता का स्वरूप स्वत: और सहज होता है। जब आत्मा और शरीर दोनों पावन होंगे तब कहेंगे सम्पूर्ण सत्यवादी अर्थात् दिव्यता सम्पन्न देवता।
स्लोगन:- बेहद की सेवा में बिजी रहो तो बेहद का वैराग्य स्वत: आयेगा।

TODAY MURLI 2 AUGUST 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 2 August 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 1 August 2018 :- Click Here

02/08/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the form of the Father is a point. To recognise Him accurately and remember Him is to be sensible.
Question: What is the meaning of a dream when we look at it in an unlimited way? Why is this world said to be like a dream?
Answer: A dream means that which has passed. You now know that this whole world is like a dream of everything that has passed from the golden age to the end of the iron age and you have now become aware in a second of the dream-like world. By knowing the beginning, the middle and the end of the world, the incorporeal world, the subtle region and the corporeal world, you have become master gods.
Song: Who has come to my door with the sound of ankle bells?

Om shanti. Shiv Baba sits here and explains to His sweetest children, to you the long-lost and now-found saligrams. Saligrams are the children of Shiv Baba. You children know that the One whom no one knows the slightest is teaching you. People go to a Shiva temple and they see such a huge lingam image there. They don’t understand that their Baba is a point. The children who remember or must have been remembering Shiv Baba, considering Him to be that big, are innocent because they are wrong. The Father explains: I am a point. How can anyone understand a point? Although some say that He is the constant form of light, that He is so-and-so, that is not so. He is a point. It is very difficult to remember Him. They repeatedly forget Him. On the path of devotion, people have the habit of offering flowers to a Shiva lingam and worshipping it, and so they remember that. However, they repeatedly forget that their Baba is a point. He plays whatever part He has in the whole drama. Would they sit and praise a point, saying that He is the Ocean of Happiness and the Ocean of Peace? He is such a tiny point. Children ask: Whom should we keep in our minds? Only sensible children would be able to understand this. Otherwise, they would just remember that lingam image of Shiva. Krishna can sit in their intellects very well, but this One is a point. In the song, it is said that even when you try to remember Him, you can’t remember Him and so what is His face like? This is so wonderful. He is such a tiny point. He performs the dance of knowledge. It is said: This is a world of dreams. Anything that has passed is said to be a dream. A dream-like world; whatever has passed enters your intellects. Brahmand, the incorporeal world, the subtle region, the golden age, the silver age, the copper age etc., the whole of it has become a dream. Anything that is the past becomes a dream. It is now also the end of the iron age. This is a dream-like world. Those dreams you have are limited. The unlimited enters your intellects. The sun and moon dynasties have also become dreams. This is called a world of dreams. No one, apart from you children, knows these secrets. There was so much happiness in the golden age. All of that has become the past. You children now have the full knowledge of the beginning, the middle and the end in your intellects. There should be the remembrance of only the one Father. No one else can explain what the Father explains. You have the world of dreams in your intellects. Your intellects know all the things that have become the past. You have all the knowledge from the top to the bottom in your intellects, from the beginning to the end. You have now become trikaldarshi and trilokinath. By becoming trilokinath, it is as though you have become gods. God sits here and gives you teachings. You have a dream in a second. Therefore, you should remember the Seed and the tree in a second. Baba also says: I have the knowledge of the beginning, the middle and the end. This is why I am called the Ocean of Knowledge, knowledge-full, Janijananhar (One who knows all secrets within). He knows what everyone’s stage is like. Why would I sit and look at each one’s stage? Whatever stage each of you had in the previous cycle, you are in that stage now. You also know that. In order to inspire you to make effort, He says: Make effort very well. You now have to become spinners of the discus of self-realisation. You know about the things that have become the past. Deities used to rule in that way and they will come and rule again. You will continue to remember the pastpresent and future. This is called the discus of self-realisation. People are used to remembering a Shivalingam image. Therefore, they believe that Baba is a Jyotilingam (oval-shaped image of light). If you were to call Him a point, people would become confused. They believe that a soul is tiny and that the Supreme Soul is big. You children now know that there is so much pomp and show in this iron-aged world at this time. This is called the pomp and show of Maya; the pomp of Maya. They say that the world has now become very good. There are now huge palaces. There is so much pomp and show in America. So many beautiful things are made. We understand that these things are just gilded and will soon be destroyed. Day by day, they build such tall buildings and dams etc. as though it is a completely new world. People are under the influence of Maya. This is the pomp and show of the devilish community. All of that is magic; it will soon vanish. It is in the intellects of the great scientists, who have the arrogance of science, that all of it will be destroyed. They tell one another: Do not interfere! Otherwise, everything will be destroyed. America considers itself to be powerful and so there must surely be someone secondin line who would then confront it. It is remembered that two cats fought. The Yadavas destroyed their own clan. So they are the two cats. That is happening in a practical way now. You children know that you took this knowledge at this time in the previous cycle too. You are now taking it again. The Father comes and explains all the knowledge. It is in the intellects of you children in the same way as it is in the Father’s intellect. The Point is called Shiva. The whole part is recorded in the soul. You have all-round part s, from the golden age to the iron age. At the time when you experience happiness in the golden and silver ages, the Father has no part. The Father says: You have bigger part s than I do. You stay in happiness whereas I stay in the land of nirvana. I do not have any part at that time. You have played allround part s and so you are the ones who are tired. This is why it is written that God massaged your feet. The Father says: Children, you must be tired. You have performed devotion for half the cycle and stumbled around from door to door. By wandering around on the path of devotion, you have become tired and so the Father comes and gives you the return by making you worshippers worthy of worship. You know that you were worthy of worship and have now become worshippers. It isn’t that God is worthy of worship and then becomes a worshipper. No, we become that. Bharat is remembered as the imperishable land. Bharat is the birthplace of Shiv Baba. People sacrifice themselves for their birthplace. Look how much the Congress Party beat their heads to regain their birthplace; they chased away the foreigners. This birthplace was heaven. Then, Maya, the five vices, came and swallowed it. We consider Ravan to be a great enemy. No one understands that Maya, Ravan, who has eaten up our kingdom is the greatest enemy of all. She blows in an incognito way like a mouse and then bites so that no one knows. By biting you in that way, she has made you completely bankrupt. No one knows that she snatched away your fortune of the kingdom. No one knows who their enemy is or how they became poverty-stricken. Maya is a big mouse. By biting you for half the cycle, she has made Bharat worth a shell. She is very powerful. You are now quietly conquering her. You know how you are claiming your kingdom back in an incognito way. Just as you lost it in an incognito way, you are also claiming it back in an incognito way. No one knows this, but you now have to conquer her. This is such a deep secret. We are once again claiming our fortune of the kingdom with Baba’s help. We do not use our hands or feet. We are claiming our inheritance from the unlimited Father in an incognito way and that will then continue for half the cycle. Maya, the mouse, bites very slowly but you now claim a kingdom for 21 births in one go. The secret of 84 births has also been explained to you. You take this many births. You know that in the golden age your lifespan is very long. Then, when you become impure and indulge in sensual pleasures, you take 63 births in the copper and iron ages. Baba sits here and explains this. Maya takes away our kingdom in this way every cycle and we then claim it back from her. It is sung in the song: From which land have you come and to which land do you have to go back? However, people don’t understand this. You know from which land you souls have come and why you have come. You have the whole cycle in your intellects. In the whole drama, Shiv Baba has the heroheroine part. Who are the actors with Shiv Baba? He first gives birth to Brahma, Vishnu and Shankar and then to you children. You are the Father’s helpers. The Father plays His part and goes back to His land and He also takes you, His helpers, to the land of liberation with Him. You will go to the land of liberation and then you will go to the land of liberation-in-life. You should keep this in your intellects very clearly. So, this is the world of dreams which has become the past. You know that deities used to reside in the golden and silver ages. They no longer exist. The song has such a deep meaning: how you are sitting with the world of dreams in your intellects and how the whole cycle turns. We also have the knowledge that Baba has. Only the unlimited Father has all this unlimited knowledge. You children know that this will also become a dream. This is something to be understood and explained. These things are not in anyone’s intellect in the golden and silver ages. You continue to receive deep points. The whole cycle should remain in your intellects. What is the path of devotion and when does it begin? There has been no benefit through it. By performing devotion, people have only incurred a loss. You are now becoming like diamonds from shells. Maya makes you worth shells. Baba teaches you the dance of knowledge. Then you will go and dance there. These are very wonderful things and worth knowing. The customs and systems of this place don’t exist there at all. That is the viceless world ; there is no name or trace of Maya there. First of all, remember Baba and claim your inheritance. However, whatever the customs and systems of that place are, they will continue there. The customs and systems there will all be new. There won’t be these festivals there. Here, there is unhappiness and this is why they celebrate festivals. There, every day is a celebration. There is no need to cry there. There is no question of celebrating a festival. There, every day is a big day for us. Marriages there also take place with a lot of splendour. The bride receives a dowry; she also receives maids and servants. However, there is no need for any festivals etc. These are the festivals of the confluence age which are celebrated on the path of devotion. There, there is always happiness. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Spin the discus of self-realisation and gain victory over Maya in an incognito way. Become knowledge-full, like the Father.
  2. Know the Father accurately as He is and what He is and remember Him as a point form. Become a point and stay in the remembrance of the Father, a point. Don’t be innocent.
Blessing: May you become an embodiment of success by using all your specialities and thereby increasing them.
The more you use your specialities by serving with your mind, words and deeds, the more those specialities will continue to increase. To use these for service means to receive a lot of fruit from one seed. Do not simply keep all the specialities you have received as your birthright in this elevated life in the seed form, but sow them in the field of service and you will experience their fruit, that is, you will experience yourself to be an embodiment of success.
Slogan: Do not look at the expansion, but look at the essence and merge it into yourself; this is intense effort.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 2 AUGUST 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 2 August 2018

To Read Murli 1 August 2018 :- Click Here
02-08-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाप का बिन्दी स्वरूप है, उसे यथार्थ पहचानकर याद करो यही समझदारी है”
प्रश्नः- बेहद की दृष्टि से स्वप्न का अर्थ क्या है? इस संसार को स्वप्नवत संसार क्यों कहा गया है?
उत्तर:- स्वप्न अर्थात् जो बात बीत गई। तुम अभी जानते हो यह सारा संसार अभी स्वप्नवत् है अर्थात् सतयुग से लेकर कलियुग अन्त तक सब कुछ बीत चुका है तुम्हें अभी सेकेण्ड में इस स्वप्न-वत् संसार की स्मृति आ गई। तुम सृष्टि के आदि, मध्य, अन्त, मूलवतन, सूक्ष्मवतन, स्थूल-वतन को जानकर मास्टर भगवान् बन गये हो।
गीत:- कौन आया मेरे मन के द्वारे….. 

ओम् शान्ति। शिवबाबा अपने मीठे-मीठे बच्चों, सिकीलधे सालिग्रामों को बैठ समझाते हैं। सालिग्राम ही शिवबाबा के बच्चे ठहरे ना। बच्चे जानते हैं कि हमको वह पढ़ाते हैं, जिनको रिंचक भी कोई जानते नहीं हैं। शिव के मन्दिर में जाते हैं परन्तु वहाँ तो इतना बड़ा शिवलिंग देखते हैं। यह थोड़ेही समझते हैं कि हमारा बाबा बिन्दी है। जो बच्चे शिवबाबा को इतना बड़ा समझ याद करते हैं वा करते होंगे – वह भी भोले हैं क्योंकि वह भी रांग है। बाप समझाते हैं कि मैं बिन्दी हूँ, अब बिन्दी को कोई क्या समझ सके। भल कोई कहते हैं अखण्ड ज्योति स्वरूप है, फलाना है परन्तु नहीं, वह है बिन्दी। उनको याद करना बड़ा मुश्किल है। घड़ी-घड़ी भूल जाते हैं। भक्ति मार्ग में आदत पड़ी हुई है शिवलिंग पर फूल चढ़ाने वा पूजा करने की तो वह याद रहता है। परन्तु यह घड़ी-घड़ी भूल जाते हैं कि हमारा बाबा बिन्दी रूप है। सारे ड्रामा में उनका जो पार्ट है वह बजाते हैं। बिन्दी की बैठ महिमा करेंगे क्या कि सुख का सागर है, शान्ति का सागर है….। कितना छोटा बिन्दी रूप है।

बच्चे पूछते हैं किसको ध्यान में रखें? इन बातों को तो समझदार ही समझ सकें। नहीं तो वही शिव का लिंग याद आ जाता है। कृष्ण तो अच्छी रीति बुद्धि में बैठ सकता है। यह तो है बिन्दी। गीत में भी कहते हैं कि याद करो तो याद न आये फिर वह सूरत कैसी है? यह भी वन्डरफुल है, इतनी छोटी बिन्दी है! ज्ञान का डांस करते हैं। कहा जाता है – यह स्वप्नों का संसार है। बीती हुई बात को स्वप्न कहा जाता है। स्वप्नवत् संसार, जो बीत गया है वह तुम्हारी बुद्धि में आता है। सारा ब्रह्माण्ड मूलवतन, सूक्ष्मवतन, सतयुग, त्रेता, द्वापर – सारा स्वप्न हो गया। जो पास्ट हो जाता है वह स्वप्न हो गया। अब कलियुग का भी अन्त है। यह स्वप्नवत् संसार हुआ ना। वह हद के स्वप्न आते हैं। तुमको बेहद का बुद्धि में आता है। सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी भी सब स्वप्न हो गया। इसको कहा जाता है स्वप्नों का संसार। इतना राज़ और कोई नहीं जानते सिवाए तुम बच्चों के। सतयुग में कितने अथाह सुख थे – वह सब पास्ट हो गये। अभी तुम बच्चों की बुद्धि में आदि, मध्य, अन्त का पूरा ज्ञान है। एक बाप की ही याद रहनी चाहिए। बाप जो समझाते हैं और कोई समझा न सके। तुम्हारी बुद्धि में स्वप्नों का संसार है। यह यह पास्ट हो गया – बुद्धि जानती है ना। तुमको ऊपर से लेकर सारी नॉलेज बुद्धि में हैं – आदि से अन्त तक की। तुम अब त्रिकालदर्शी-त्रिलोकीनाथ बन गये हो। त्रिलोकीनाथ बनने से तुम जैसे भगवान् हो जाते हो। भगवान् बैठ तुमको शिक्षा देते हैं। सेकेण्ड में स्वप्न आता है ना। तो सेकेण्ड में तुमको सारा याद आना चाहिए – बीज और झाड़। बाबा भी कहते हैं – आदि, मध्य, अन्त का मेरे पास ज्ञान है इसलिए ही मुझे ज्ञान का सागर, नॉलेजफुल, जानी-जाननहार कहते हैं। जानते हैं हरेक की अवस्था ऐसी ही रहेगी। एक-एक की अवस्था को हम क्या बैठ जानेंगे! जो अवस्था कल्प पहले थी, उस अवस्था में हैं। सो तो तुम भी जानते हो। पुरुषार्थ कराने के लिए कहते हैं – अच्छी रीति पुरुषार्थ करो।

अभी तुमको स्वदर्शन चक्रधारी बनना है। तुम जानते हो यह-यह पास्ट हो गया है – ऐसे देवतायें राज्य करते थे फिर आकर राज्य करेंगे। पास्ट, प्रेजन्ट, फ्युचर यह याद करते रहेंगे। उनको ही स्वदर्शन चक्र कहा जाता है। शिवलिंग को याद करने में तो हिरे हुए हैं। तो समझते हैं कि बाबा ज्योर्तिलिंगम है। बिन्दी कहें तो मूँझ पड़े। वह समझते हैं आत्मा छोटी है, परमात्मा बड़ा है। अभी तुम बच्चे जानते हो – इस कलियुगी दुनिया में इस समय देखो भभका कितना है! इसको माया का भभका कहा जाता है। माया का पाम्प है। कहते हैं ना – अभी दुनिया कितनी अच्छी बन गई है। बड़े-बड़े महल बन गये हैं। अमेरिका का कितना भभका है! चीजें कितनी ऩफीस बनती हैं। हम समझते हैं कि यह तो मुलम्मे की चीजें हैं जो अभी खत्म हो जायेंगी। दिन-प्रतिदिन बड़ी-बड़ी इमारतें, डैम्स आदि ऐसे बनायेंगे, जैसे बिल्कुल नई दुनिया है। मायावी पुरुष हैं ना। आसुरी सम्‍प्रदाय का भभका है। यह सब है तिलस्म (जादू), अभी गया कि गया। बड़े-बड़े साइन्स घमन्डी जो हैं उन्हों की बुद्धि में है कि यह सब खत्म हो जायेंगे। एक-दो को कह देते हैं तुम इन्टरफियर न करो, नहीं तो सब ख़त्म हो जायेंगे। अमेरिका अपने को बलवान समझता है तो जरूर सेकेण्ड नम्बर में भी कोई होगा जो सामना करे। गाया हुआ है – दो बिल्ले लड़ते हैं। यादवों ने अपने कुल का विनाश किया, तो वह दो बिल्ले हुए ना। वही प्रैक्टिकल हो रहा है।

तुम बच्चे जानते हो – आगे भी इस समय तुमने ही नॉलेज ली थी। अब भी ले रहे हो। बाप आकर सारी नॉलेज समझाते हैं। जैसे बाप की बुद्धि में है वैसे तुम बच्चों की बुद्धि में भी है। शिव कहा जाता है बिन्दी को। आत्मा में भी सारा पार्ट है। तुम्हारा है आलराउन्ड पार्ट, सतयुग से लेकर कलियुग तक। सतयुग-त्रेता में तुम जब सुख भोगते हो तो उस समय बाप का कोई पार्ट नहीं। बाप कहते हैं कि मेरे से भी तुम्हारा जास्ती पार्ट है। तुम सुख में रहते हो तो मैं निर्वाणधाम में हूँ। मेरा कोई पार्ट ही नहीं। तुमने आलराउन्ड पार्ट बजाया है तो थके भी तुम होंगे इसलिए लिखा हुआ है – चरण दबाये हैं। बाप कहते हैं – बच्चे, तुम थक गये होंगे। तुमने आधाकल्प भक्ति की, दर-दर धक्के खाये हैं। भक्ति मार्ग में भटकते-भटकते तुम थक जाते हो फिर बाप आकर उजूरा देते हैं, पुजारी से पूज्य बना देते हैं। तुम जानते हो हम सो पूज्य थे फिर पुजारी बने हैं। ऐसे नहीं कि परमात्मा आपे ही पूज्य, आपे ही पुजारी है। नहीं, हम ही बनते हैं।

भारत ही अविनाशी खण्ड गाया जाता है। भारत है शिवबाबा की जन्मभूमि। जन्मभूमि पर ही मनुष्य कुर्बान होते हैं। कांग्रेसियों ने भी देखो, कितना माथा मारा जन्म भूमि के लिए। फॉरेनर्स को बाहर निकाल दिया। यह जन्म भूमि स्वर्ग थी। फिर 5 विकारों रूपी माया ने आकर हप किया है। हम रावण को बड़ा दुश्मन समझते हैं। यह कोई भी नहीं समझते कि बड़े ते बड़ा दुश्मन माया रावण है, जो हमारी राजाई खा गया है। यह जैसे कि गुप्त चूहे मुआफिक फूँक देता और काटता रहता है, जो किसको पता भी नहीं पड़ रहा है। काटते-काटते एकदम देवाला मार दिया है। किसको पता नहीं है, हमारा राज्य भाग्य छीन लिया है। कोई को पता नहीं है हमारा दुश्मन कौन है? हम कंगाल कैसे बने? माया बड़ा चूहा है – आधाकल्प खाते-खाते भारत को कौड़ी जैसा बना दिया है। बड़ा ही बलवान है। अभी फिर तुम चुपके से उस पर जीत पा रहे हो। तुम जानते हो कि हम कैसे गुप्त रीति राज्य ले लेते हैं। जैसे गुप्त रीति गँवाया है फिर लेते भी गुप्त रीति से हैं। कोई भी नहीं जानते – अभी फिर इस पर जीत पानी है। कितने महीन राज़ हैं! बाबा की मदद से हम फिर से राज्य-भाग्य लेते हैं। कोई हाथ-पांव नहीं चलाते हैं। गुप्त रीति से हम अपना बेहद के बाप से वर्सा लेते हैं, जो आधाकल्प रहेगा। वह चूहा माया तो आहिस्ते-आहिस्ते खाता है और तुम अभी राज्य एक ही बार ले लेते हो 21 जन्म के लिए। 84 जन्मों का राज़ भी तुमको समझाया गया है। इतने-इतने जन्म लिए हैं। तुम जानते हो सतयुग में हमारी आयु बहुत बड़ी थी। फिर अपवित्र भोगी बनते हैं तो द्वापर-कलियुग में 63 जन्म लेते हैं। यह बाबा बैठ समझाते हैं। कल्प-कल्प माया ऐसे राज्य लेती है फिर हम उनसे लेते हैं। गीत में गाते तो हैं – कौन देश से आया, कौन देश में है जाना…….? परन्तु समझते नहीं हैं। तुम तो जानते हो आत्मा किस देश से आई है? क्यों आई है? सारा चक्र बुद्धि में है। सारे ड्रामा में हीरो-हीरोइन पार्ट है शिवबाबा का। शिवबाबा के साथ पार्टधारी कौन-कौन हैं? पहले-पहले जन्म देते हैं – ब्रह्मा, विष्णु, शंकर को फिर तुम बच्चों को। तुम बाप के साथ मददगार ठहरे। बाप अपना पार्ट बजाकर अपने धाम चले जाते हैं और तुम मददगारों को भी साथ में मुक्तिधाम में ले जाते हैं। तुम मुक्तिधाम जाकर फिर जीवनमुक्ति में चले जायेंगे। कितना अच्छी रीति बुद्धि में रखना चाहिए! तो यह है सपनों का संसार जो बीत गया।

तुम जानते हो कि सतयुग-त्रेता में देवी-देवतायें रहते थे, अभी नहीं हैं। गीत का कितना गुह्य राज़ है – कैसे सपनों का संसार बुद्धि में लेकर बैठे हैं? सारा चक्र कैसे फिरता है? जो नॉलेज बाबा में है वह हमारे में भी है। बेहद के बाप में ही यह सारी बेहद की नॉलेज हैं। बच्चे जानते हैं – यह भी स्वप्न हो जायेगा। यह बड़ी समझने और समझाने की बातें हैं। सतयुग-त्रेता में यह बातें किसकी बुद्धि में होती नहीं। गुह्य प्वाइन्ट्स मिलती रहती हैं। बुद्धि में सारा चक्र रहना चाहिए। भक्ति मार्ग क्या है, कब से शुरू होता है, इससे कुछ भी फ़ायदा नहीं हुआ। भक्ति करते-करते नुकसान में ही आ गये हैं। अब फिर से तुम कौड़ी से हीरे जैसा बनते हो। माया कौड़ी मिसल बना देती है। बाबा ज्ञान डान्स सिखलाते हैं। फिर वहाँ जाकर तुम डान्स करेंगे। यह बातें बड़ी वन्डरफुल जानने लायक हैं। यहाँ की रस्म-रिवाज वहाँ बिल्कुल नहीं होती है। वह है ही वाइसलेस वर्ल्ड। वहाँ माया का नाम-निशान नहीं होता। पहले तुम बाबा को याद करो, वर्सा तो ले लो, बाकी वहाँ की रस्म-रिवाज जो होगी, वही चलेगी। वहाँ की रस्म-रिवाज सब नई होगी। वहाँ यह उत्सव आदि होंगे नहीं। यहाँ गमी (उदासी) रहती है, तब शादमाना (उत्साह दिलाने वाले उत्सव) मनाते हैं। वहाँ तो नित्य है ही शादमाना। रोने की दरकार नहीं रहती। उत्सव मनाने की बात नहीं रहती। सदैव हमारे बड़े दिन होंगे। वहाँ शादी भी धूमधाम से होती है, दहेज मिलता है, दास-दासियाँ मिलती हैं। बाकी त्योहार आदि की दरकार नहीं रहती। यह हैं ही संगम के त्योहार, जो भक्ति मार्ग में मनाये जाते हैं। वहाँ तो सदैव खुशियाँ ही खुशियाँ हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) स्वदर्शन चक्र फिराते माया पर गुप्त रीति विजय प्राप्त करनी है। बाप समान नॉलेजफुल होकर रहना है।

2) बाप जो है, जैसा है, उसे यथार्थ बिन्दी रूप में जानकर याद करना है। बिन्दू बन, बिन्दू बाप की याद में रहना है। भोला नहीं बनना है।

वरदान:- अपनी सर्व विशेषताओं को कार्य में लगाकर उनका विस्तार करने वाले सिद्धि स्वरूप भव
जितना-जितना अपनी विशेषताओं को मन्सा सेवा वा वाणी और कर्म की सेवा में लगायेंगे तो वही विशेषता विस्तार को पाती जायेगी। सेवा में लगाना अर्थात् एक बीज से अनेक फल प्रगट करना। इस श्रेष्ठ जीवन में जो जन्म सिद्ध अधिकार के रूप में विशेषतायें मिली हैं उनको सिर्फ बीज रूप में नहीं रखो, सेवा की धरनी में डालो तो फल स्वरूप अर्थात् सिद्धि स्वरूप का अनुभव करेंगे।
स्लोगन:- विस्तार को न देख सार को देखो और स्वयं में समा लो – यही तीव्र पुरुषार्थ है।

TODAY MURLI 2 August 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 2 August 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 1 August 2017 :- Click Here

02/08/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to make a vow to remain pure. There is no need to go on hunger strike or go without water. Remain pure and you will become the masters of the world.
Question: At this time, who are the best of all in this world and in what way?
Answer: At this time, the poor are the best of all in this world because the Father comes and meets the poor. The wealthy do not listen to this knowledge. The Father is the Lord of the Poor. He makes the poor ones wealthy.
Song: What has happened to human beings of today?

Om shanti. You children heard the song. That is divine love which would be called Godly love. God is now teaching love; He teaches you how to love one another. There was such true love in Bharat when it was the land of truth. Who created the land of truth? The Satguru, the true Father and the true Teacher. In front of whom are you now sitting? You are sitting in front of the true Baba, that is, the One who gives true happiness, the One who teaches true love and gives true knowledge. Everything in the land of falsehood is false. It is also said, “Keep the company of the Truth.” There is only one Truth but countless things are false. You are personally sitting in front of the unlimited Father who makes Bharat into heaven, the One who gives the unlimited inheritance. He has come once again to give you the unlimited kingdom. There is only one true Baba and by keeping His company you become the masters of the world. At the beginning of devotion there is true worship of Shiv Baba and that is known as true, unadulterated devotion. Baba sits here and explains the knowledge of the whole cycle to you children. To begin with, there was unadulterated devotion of one Shiv Baba and now He speaks true knowledge to you; He liberates you from false devotion. You are hearing knowledge from the true Father. You understand that this company of the Truth will take you to heaven. Only through true knowledge do your boats go across; with false knowledge, spoken by others, your boats sink. That is called ignorance. Only the Father gives true knowledge. You children have understood the history and geography of the whole cycle. Therefore, this true Father is also the true Teacher. In the golden age, too, you have true fathers because there is nothing false there. There, God is not said to be omnipresent. Falsehood begins when the five vices that make everything false come into existence. It is now in the intellects of you children that you are personally sitting in front of the unlimited incorporeal Father. This Baba also says: I am sitting personally in front of that Baba. I remember Him; I remember Him again and again. I am Baba’s child, am I not? You have to forget this corporeal father and remember that One. For me, there is only one Baba. There may be a little hindrance for you, but why should there be any hindrance for me? Your vision is drawn to this one. To whom would my vision be drawn? I have a direct connection with Shiv Baba. You have to make effort to remember Shiv Baba. You have to cross out this corporeal one, so that you do not remember him. However, for me, there is only one Shiv Baba. Although there are two sitting in front of you, there is only the One in front of me. I am His child; nevertheless, I am not able to stay in constant remembrance, because Baba says: You are a karma yogi. The whole cycle spins in your intellect; the soul has so many births in the golden and silver ages, and, while taking these births, you have completed the cycle of 84 births. There is an account of 84 births. Once the end of the iron age is reached, the new cycle begins and the history and geographyrepeat. Who existed in the golden age? Where did they rule? You understand that the deities used to rule over the whole world. Now people say: Don’t cross our frontier! Don’t drink our water! Baba is the Master of the unlimited. Baba says: Remember Me! It is not this Baba who says this. Incorporeal Baba says to you souls through this one: Remember Me and you will never then fall ill or become diseased there. Here, some fathers give birth to children and then die, so the children experience so much sorrow and then have to work for their livelihood. This is the land of sorrow. The Father doesn’t give you any difficulty. He simply says: Remember Me and your sins will be absolved. Remember the Father and the inheritance. Although a son understands that he will receive an inheritance from his father, he still learns how to run his own business; he would not just sit waiting for his inheritance. However, those who take birth in a royal family wait for their inheritance. After giving a lot of donations and doing a great deal of charity, one receives a birth in a royal family and then one looks after the kingdom. These kings are impure. You will go and take birth to pure kings in the home of Lakshmi and Narayan or somewhere else in the kingdom of the sun dynasty. There is no trace of sorrow there at all. You will be free from all sorrow. Baba comes and gives you patience. This is now your final birth. This has been your state for birth after birth: children have been falling and have reached the land of sorrow. How can the land of happiness come? There is a lot of sorrow here and any happiness is only temporary. Even important people have nothing but sorrow. At the moment, the poor are the best of all. Baba has come to make the poor ones wealthy. Donations are only given to the poor. Everyone here is ordinary. However, no matter how much you explain to those who are millionaires, to those who have millions of rupees, they still have such pride in their wealth! Baba says: What wealth can be given to such people? I am the Lord of the Poor. The poor kumaris and mothers take this knowledge. There is so much respect for a kumari; everyone worships her. Then, when she marries, she becomes a worshipper. For half a cycle we were worthy of being worshipped and then we became worshippers. A kumari becomes a worshipper in the same birth. A kumari is pure but, after marriage, she becomes a worshipper, impure. She considers her husband to be her god and bows her head to him and lives like his slave. Therefore, Baba comes and frees you from slavery. The number of children continues to increase. You can explain: We are children of Prajapita Brahma and grandchildren of Shiv Baba. We have a right to His property. His property is unlimited. He makes us into the masters of the world. His order is: Children, remember Me alone! I tell you the truth, that you will become Lakshmi from an ordinary woman and Narayan from an ordinary man. There is no need to have a system of fasting. Previously, you used to perform many such penances; some didn’t eat for seven days. People think that by having such a system of fasting they will be able to go to the land of Krishna. In fact, the true fast is to remain pure. They starve themselves by force. You children don’t need to go on hunger strikes etc. Yes, you just go on strike to become pure. We will make everyone pure; that is our business. Nevertheless, nothing will happen by not taking water or not eating. Simply promise to be pure. Women experience a great deal of sorrow when their husband dies. You can go and explain to them that the Husband of all husbands has now come. He says: Just remember Me alone and you will become the masters of heaven. That is the Husband of all husbands and the Father of all fathers. If someone’s husband dies, explain knowledge to her and get her engaged to Shiv Baba. Ask her: “Why are you crying?” and then explain that no one cries in the golden age. Here, everyone continues to cry. In Bharat, there was the true kingdom of deities. These days, people beat and kill one another. This is the devilish kingdom. The picture of Lakshmi and Narayan is very good. There is a whole set: the Trimurti, Lakshmi and Narayan and Radhe and Krishna. If you were to look at these pictures every day you would remember that Shiv Baba is making you that through Brahma. Write on a small board and put it up outside your own home: By knowing the unlimited Father you can claim the status of self-sovereignty for twenty-one births. Gradually, many people will read the board and come to you. You are imperishable, spiritual surgeons. You are passing the course of spiritual surgery. You need to put up a board. Tell them: By remembering that Father you will receive the unlimited kingdom. Baba has written many good questions. How many spiritual children does Baba have? He is the One with many children. Both brothers and sisters are included in this. When you come to Baba, I explain how many Brahma Kumars and Kumaris there are. I have many children and the number of children is growing. You can explain that we are brothers and sisters. We must not have vicious vision. The Father says: Together with bodies, also forget the false relationships of bodies and remember Me and you will become pure. You promise to belong to no one but one Shiv Baba. If the old mothers were also to remember these words, there would be great benefit. We have taken 84 births and we have now become Brahmins and we will then become deities, warriors, merchants and shudras. You must definitely become Brahmins and you will do so, as you did a cycle ago. Countless souls will become Brahmins. The Brahmin children who are now abroad will also emerge. They keep remembering Baba. Baba says: While staying with your family, consider yourself to be a soul. Consider yourself to be a grandchild of Shiv Baba. We Brahmins will become deities. In the iron age, there are humans whereas there will be deities in the golden age. All human beings in the iron age are devilish. You are now becoming those who belong to the divine community. Only the Father speaks these things. No one else can tell you about any of this. No one else knows about these clans. Only you Brahmins can explain this knowledge. Others cannot understand until they receive knowledge through a Brahma Kumar or Kumari. Only you can give this knowledge. This requires a very clean heart. If the heart is clean, all desires are fulfilled. Some don’t have clean hearts. You should become busy with a clean heart in the service of the true Father. You should have this hobby. Our job is to explain. You understand that, although you beat your heads over 108 souls, it will perhaps only sit in the intellect of one of them. One or two may emerge – those who emerged a cycle ago. Those who became Brahma Kumars and Kumaris will be the ones who come now. You must not get tired. Continue to make effort and someone or other will emerge. Wherever you go, to your friends and relations or to weddings, etc. you can explain to them. Advice is given to each of them according to each one’s karma. The main thing is to remain pure. Sometimes, you may even have to eat outside.

[wp_ad_camp_5]

 

Achcha, children, if you stay in remembrance of Shiv Baba, Maya will not influence you, but Baba doesn’t give this permission to everyone. It is seen that it may be a desperate situation or that their jobs may be at stake. Each one is given different advice. The world is very bad; you have to live with many. There is a story about a guru who told his follower in order to test him to go and live in a lion’s cave and to go to a prostitute. In fact, that was not a test. This applies to you children. You will not be sent to lions. The Father explains: Give the Father’s introduction to anyone who comes. Day by day, the lock on everyone’s intellect will open. The tree has to grow. Then destruction will begin. Destruction cannot take place before then. A kingdom is being established here. The Father says: Simply remember Me. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to imbibe knowledge, keep your heart very clean. Engage yourself in the Father’s service with a true heart. Don’t ever tire of doing service.
  2. Make this promise: Mine is Shiv Baba alone and none other. Renounce the body and false bodily relations and have all relationships with One. Donate the wealth of knowledge to the poor.
Blessing: May you be an elevated effort-maker who transforms wrong into right with controlling power.
An elevated effort-maker is one who transforms wrong into right in a second with his controlling power. Let it not be that you want to controlsomething wasteful, and that while you understand that it is wrong, it continues to happen for half an hour. That would be said to be a little bit of dependency and having little right over it. When you understand that that is not correct, that it is inaccurate or wasteful, you have to be able to apply a brake at that moment which is elevated effort. Controlling power does not mean that you apply a brake here and that it comes into effect somewhere else.
Slogan: Make your nature easy and your time will not then be wasted.

*** Om Shanti ***

 

[wp_ad_camp_3]

 

Brahma kumaris murli 2 August 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 2 August 2017

 August 2017 Bk Murli :- Click Here

To Read Murli 1 August 2017 :- Click Here

BK murli today ~ 02/08/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली

02/08/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम्हें पवित्र रहने का व्रत लेना है, बाकी निर्जल रखने, भूख-हड़ताल आदि करने की जरूरत नहीं, पवित्र बनो तो विश्व का मालिक बन जायेंगे”
प्रश्नः- इस समय दुनिया में सबसे अच्छे कौन हैं और कैसे?
उत्तर:- इस दुनिया में इस समय सबसे अच्छे गरीब हैं क्योंकि गरीबों को ही बाप आकर मिलते हैं। साहूकार तो इस ज्ञान को सुनेंगे ही नहीं। बाप है ही गरीब निवाज़। गरीबों को ही साहूकार बनाते हैं।
गीत:- आज के इंसान को….

ओम् शान्ति। बच्चों ने गीत सुना। वह दैवी प्यार जिसको ईश्वरीय प्यार कहें। अब ईश्वर प्यार सिखलाते हैं कि कैसे एक दो को प्यार करना चाहिए। भारत में कितना सच्चा प्यार था, जब सचखण्ड था। सचखण्ड किसने बनाया था? सतगुरू, सत बाबा, सत टीचर ने। अभी तुम किसके आगे बैठे हो? सच बाबा अर्थात् जो सच्चा सुख देने वाला है, सच्चा प्यार सिखाने वाला है। सच्चा ज्ञान देते हैं, उनके सम्मुख में बैठे हैं। झूठ खण्ड में तो सब झूठ हैं। गाया भी जाता है कि सत का संग करो। सत तो एक ही है। असत्य अनेक हैं। जो बाप भारत को स्वर्ग बनाते हैं, बेहद का वर्सा देते हैं, तुम उस बेहद बाप के सम्मुख बैठे हो। जो फिर से हमको बेहद की बादशाही देने आये हैं। सत बाबा एक ही है, जिसके संग से तुम विश्व के मालिक बनते हो। भक्ति में पहले-पहले एक ही शिवबाबा की सच्ची-सच्ची भक्ति होती है। उसको ही सच्ची अव्यभिचारी भक्ति कहा जाता है। बाबा बैठ तुम बच्चों को सारे चक्र का ज्ञान सुनाते हैं। पहले-पहले एक शिवबाबा की भक्ति थी जिसको अव्यभिचारी भक्ति कहते थे फिर अभी ज्ञान भी तुमको सच्चा सुनाते हैं। झूठी भक्ति से छुड़ाते हैं। सच्चे बाबा द्वारा तुम ज्ञान सुन रहे हो। तुम जानते हो यह सत का संग हमको स्वर्ग में ले जायेगा। सच्चे ज्ञान से ही बेड़ा पार होता है और जो झूठा ज्ञान सुनाते हैं उससे बेड़ा गर्क होता है। उसको अज्ञान कहा जाता है। सच्चा ज्ञान सिर्फ बाप ही सुनाते हैं। तुम बच्चे सारे चक्र की हिस्ट्री-जॉग्राफी को समझ गये हो। तो यह सच्चा-सच्चा बाबा, सच्चा-सच्चा टीचर है। सतयुग में भी सच्चा बाप कहेंगे क्योंकि वहाँ झूठ होता ही नहीं। ईश्वर को सर्वव्यापी नहीं कहते। झूठ तो तब शुरू होता है जब झूठ बनाने वाले 5 विकार आते हैं।

अभी तुम बच्चों की बुद्धि में है कि हम बेहद के निराकार बाप के सम्मुख बैठे हैं। यह बाबा भी कहते हैं कि हम उस बाबा के सम्मुख बैठे हैं। उनको याद करता हूँ। घड़ी-घड़ी याद करता हूँ। बाबा का बच्चा हूँ ना। तुमको तो इस साकार को छोड़ उनको याद करना है। हमारे लिए तो एक ही बाबा है। तुम्हारे लिए थोड़ी अटक पड़ती है, मुझे क्यों अटक पड़ेगी। तुम्हारी नज़र इस पर जाती है, मेरी नज़र किस पर जायेगी? मेरा तो डायरेक्ट शिवबाबा से कनेक्शन हो गया। तुमको शिवबाबा को याद करना पड़ता है। इस साकार को क्रास करना पड़ता है कि यह याद न पड़े, मेरे लिए तो एक शिवबाबा ही है। तुम्हारे सामने दो बैठे हैं। हमारे सामने तो सिर्फ एक ही है। मैं उनका बच्चा हूँ। फिर भी निरन्तर याद नहीं कर सकता हूँ क्योंकि बाबा कहते हैं – तुम कर्मयोगी हो। तुम्हारी बुद्धि में सारा चक्र फिरता रहता है। सतयुग त्रेता में इतने जन्म पास किये फिर इतने जन्म लेते-लेते 84 जन्मों का चक्र पूरा किया। हिसाब है ना। अब कलियुग का अन्त आ गया फिर आगे नया चक्र फिरेगा। हिस्ट्री-जॉग्राफी फिर से रिपीट होती है। सतयुग में कौन थे, कहाँ पर राज्य करते थे। यह भी तुम जानते हो कि सारी विश्व पर देवतायें ही राज्य करते थे। अभी तो कहेंगे तुम हमारी हद में नहीं आओ, हमारा पानी न लो। बाबा तो बेहद का मालिक है। बाबा कहते हैं मुझे याद करो। यह बाबा नहीं कहते। इन द्वारा निराकार बाबा तुम आत्माओं को कहते हैं मुझे याद करो तो तुम कभी रोगी वा बीमार नहीं होंगे। यहाँ तो बाप बच्चों को पैदा कर बड़ा करते हैं फिर अचानक अगर वह मर जाते हैं (शरीर छोड़ देते हैं) तो सब कितने दु:खी हो पड़ते हैं। फिर तो शरीर निर्वाह अर्थ खुद ही सर्विस करनी पड़े। यह तो है ही दु:खधाम। बाप तो तुम्हें कोई तकलीफ नहीं देते हैं। सिर्फ कहते हैं मुझे याद करो तो विकर्म विनाश हो जायेंगे। बाप और वर्से को याद करो। बच्चा जानता है कि बाप से हमको वर्सा मिलना है तो भी अपना धन्धाधोरी जरूर सीखते हैं। वर्से के लिए बैठ तो नहीं जायेंगे। बाकी सिर्फ जो राजाई में जन्म लेते हैं वह वर्से के लिए बैठते हैं। बहुत दान-पुण्य करने से राजाई घर में जन्म मिलता है। राजाई ही सम्भालनी पड़े। वह राजायें तो पतित हैं। अब तुम्हें पावन राजाओं के पास जन्म लेना है। लक्ष्मी-नारायण के घर में वा सूर्यवंशी की राजाई में जन्म लेना है, वहाँ कोई प्रकार का दु:ख होता नहीं। सभी दु:खों से छूट जाते हो। बाबा आकर धीरज देते हैं। अभी यह अन्तिम जन्म है। तुम्हारी तो जन्म-जन्मान्तर से यह हालत होती आई है। बच्चे गिरते ही आये हैं दु:खधाम में, सुखधाम कहाँ से आये। यहाँ तो दु:ख बहुत है, सुख अल्पकाल का है। भल बड़े बड़े आदमी हैं, उन्हों को भी दु:ख ही दु:ख है। इस समय जो गरीब हैं वह सबसे अच्छे हैं। बाबा आये ही हैं गरीबों को साहूकार बनाने। दान भी गरीबों को करना होता है। सब साधारण हैं ना। बाकी जो लखपति हैं, जिनके पास करोड़ों रूपया है, कितना भी उन्हें समझाओ फिर भी अपने धन की कितनी मगरूरी रहती है। बाबा कहते हैं ऐसे को क्या धन देना है। मैं तो हूँ ही गरीब निवाज़। ऐसी कन्यायें मातायें ही ज्ञान लेती हैं। कन्या का कितना मान है, सब उसे पूजते हैं फिर शादी करने से पुजारी बन जाती है। हम आधाकल्प पूज्य फिर आधाकल्प पुजारी बने हैं। कन्या तो इस जन्म में ही पुजारी बन जाती है। कितना पावन है, शादी करने से ही पुजारी पतित बन जाती है। पति को परमेश्वर समझ माथा टेकती रहती है। उनके आगे दासी बनकर रहती है। तो बाबा आकर दासीपने से छुड़ाते हैं। बच्चे वृद्धि को पाते जाते हैं। तुम समझा सकते हो हम प्रजापिता ब्रह्मा के बच्चे शिवबाबा के पोत्रे हैं। उनकी मिलकियत पर हमारा हक लगता है। उनकी मिलकियत है बेहद की। विश्व का मालिक बनाते हैं। उनका फरमान है बच्चे मामेकम् याद करो तो मैं सत्य कहता हूँ तुम नारी से लक्ष्मी बन जायेंगी। इसमें कोई व्रत नेम करना, भूखा रहना नहीं है। आगे तुम बहुत व्रत-नेम रखते थे। 7 रोज़ खाना नहीं खाते थे। समझते हैं व्रत नेम रखने से कृष्णपुरी में चले जायेंगे। वास्तव में सच्चा व्रत है पवित्र रहने का। वह तो हठ से भूखे रहते हैं। तुम बच्चों को कुछ भी भूख हड़ताल आदि नहीं करना है। हाँ, तुमको पावन बनने की ही हड़ताल करनी है। हम सबको पावन बनायेंगे। तुम्हारा धन्धा ही यह है। बाकी निर्ज़ल रहना, खाना नहीं खाना इससे कुछ होता नहीं है। तुम सिर्फ पवित्रता की प्रतिज्ञा करो। माताओं को पति के मरने से बहुत दु:ख होता है। उन्हों को जाकर समझाना चाहिए कि अब पतियों का पति आया हुआ है। वह कहते हैं सिर्फ मुझे याद करो तो स्वर्ग के मालिक बनेंगे। यह तो पतियों का पति, बापों का बाप है। पति मर जाए तो स्त्री को ज्ञान समझाए शिवबाबा से सगाई करानी चाहिए। समझाना है कि तुम रोती क्यों हो, सतयुग में कोई रोते नहीं हैं। यहाँ देखो सब रोते रहते हैं। भारत में सच्चा-सच्चा देवताओं का राज्य था। आज तो एक दो को मारते कूटते रहते हैं। आसुरी राज्य है ना। लक्ष्मी-नारायण का चित्र बहुत अच्छा है। इसमें सारा सेट है। त्रिमूर्ति, लक्ष्मी-नारायण, राधे कृष्ण भी हैं, यह चित्र भी अगर कोई रोज़ देखता रहे तो याद रहे कि शिवबाबा हमको ब्रह्मा द्वारा यह बना रहे हैं। घर में भी छोटे-छोटे बोर्ड बनाकर लिख दो। बेहद के बाप को जानने से तुम 21 जन्मों के लिए स्वराज्य पद पा सकते हो। धीरे-धीरे बहुत मनुष्य बोर्ड देखकर तुम्हारे पास आयेंगे।

[wp_ad_camp_5]

 

तुम रूहानी अविनाशी सर्जन हो। रूहानी सर्जरी का कोर्स पास कर रहे हो, बोर्ड लगाना पड़ेगा। बोलो, इस बाप को याद करने से तुमको बेहद की बादशाही मिलेगी। बाबा ने प्रश्न बहुत अच्छे लिखे हैं। बाबा के कितने रूहानी बच्चे हैं? बाल-बचड़े वाला है ना। इसमें भाई-बहन दोनों आ जाते हैं। बाबा के पास आते हैं तो समझाता हूँ – कितने बी.के. हैं। कितना बचड़े वाला हूँ। बच्चे वृद्धि को पाते जाते हैं। तुम समझा सकते हो हम भाई-बहन हैं – विकार की दृष्टि जा नहीं सकती है। बाप कहते हैं देह सहित देह का झूठा सम्बन्ध छोड़ मुझे याद करो तो तुम पावन बन जायेंगे। तुम अंजाम भी करते आये हो मेरा तो एक शिवबाबा दूसरा न कोई। बुढ़ियाँ भी यह दो अक्षर याद कर लें तो बहुत कल्याण हो सकता है। हमने 84 जन्म लिये हैं। अभी हम ब्राह्मण बने हैं फिर देवता, क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र बनेंगे। ब्राह्मण जरूर बनना है और बनेंगे भी जरूर कल्प पहले मुआफिक। ढेर के ढेर बनेंगे। अभी ब्राह्मण बच्चे जो विलायत आदि तरफ हैं, वह भी निकल आयेंगे। याद तो करते रहते हैं। बाबा कहते हैं – अपने कुटुम्ब परिवार में रहते अपने को आत्मा समझो। शिवबाबा का पोत्रा अपने को समझो। हम ब्राह्मण सो देवता बनेंगे। कलियुग में मनुष्य हैं, सतयुग में बनेंगे देवतायें। कलियुग में सब आसुरी मनुष्य हैं। अभी तुम दैवी सम्प्रदाय के बन रहे हो। यह बाप ही बतलाते हैं, दूसरा कोई बतला न सके। इन वर्णों को कोई जानते ही नहीं है। तुम ब्राह्मण ही नॉलेज समझा सकते हो। जब तक कोई तुम बी.के. द्वारा ज्ञान न लेवे तब तक समझ नहीं सकते। तुम ही दे सकते हो, इसमें दिल बड़ी साफ चाहिए, दिल साफ मुराद हांसिल। कोई-कोई की दिल साफ नहीं होती है, सच्ची दिल से सच्चे बाप की सेवा में लग जाना चाहिए। हॉबी होनी चाहिए। हमारा काम है समझाना। यह भी जानते हो 108 से माथा मारेंगे तो कहीं एक की बुद्धि में बैठेगा। एक दो निकल आयेंगे, जो कल्प पहले निकले होंगे। बी.के. बना होगा वही आयेगा। थकना नहीं है। तुम मेहनत करते रहो। कोई न कोई निकल ही पड़ेगा। कहाँ भी जाओ मित्र-सम्बन्धी के पास जाओ, शादी-मुरादी में जाओ – हर एक के कर्मों अनुसार राय दी जाती है। मुख्य है पवित्र रहने की बात। कहाँ बाहर खाना भी पड़ता है। अच्छा बच्चे, शिवबाबा की याद में रहेंगे तो माया का असर नहीं होगा। बाबा सबको छुटटी नहीं देते हैं। लाचारी हालत में देखा जाता है। नहीं तो नौकरी छूट जायेगी। हर एक को अलग-अलग राय दी जाती है। दुनिया बहुत खराब है। कइयों के साथ रहना होता है। एक कहानी भी है। गुरू ने चेले को कहा शेर की गुफा में रहो। वेश्या के पास रहो… परीक्षा लेने भेजा। वास्तव में वह कोई परीक्षा नहीं। यह तुम बच्चों के लिए है। तुमको शेर के पास तो नहीं भेजेंगे। बाप तो समझाते हैं कोई भी हो उन्हों को बाप का परिचय दो। दिन-प्रतिदिन बुद्धि का ताला खुलता जायेगा। झाड़ बढ़ना तो है ना, तब तो विनाश भी शुरू हो इनसे पहले विनाश तो हो न सके। यहाँ तो राजधानी स्थापन हो रही है। बाप तो कहते हैं सिर्फ मुझे याद करो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) नॉलेज को धारण करने के लिए दिल बड़ी साफ रखनी है। सच्ची दिल से बाप की सेवा में लगना है। सेवा में कभी भी थकना नहीं है।

2) वायदा करना है मेरा तो एक शिवबाबा, दूसरा न कोई। देह सहित देह के सब झूठे सम्बन्ध छोड़ एक से सर्व सम्बन्ध जोड़ने हैं। गरीबों को ज्ञान धन का दान देना है।

वरदान:- कन्ट्रोलिंग पावर द्वारा रांग को राइट में परिवर्तन करने वाले श्रेष्ठ पुरूषार्थी भव 
श्रेष्ठ पुरूषार्थी वह हैं जो सेकण्ड में कन्ट्रोंलिंग पावर द्वारा रांग को राइट में परिवर्तन कर दे। ऐसे नहीं व्यर्थ को कन्ट्रोल तो करना चाहते हैं, समझते भी हैं यह रांग हैं लेकिन आधा घण्टे तक वही चलता रहे। इसे कहेंगे थोड़ा-थोड़ा अधीन और थोड़ा-थोड़ा अधिकारी। जब समझते हो कि यह सत्य नहीं है, अयथार्थ वा व्यर्थ है, तो उसी समय ब्रेक लगा देना-यही श्रेष्ठ पुरूषार्थ है। कन्ट्रोलिंग पावर का अर्थ यह नहीं कि ब्रेक लगाओ यहाँ और लगे वहाँ।
स्लोगन:- अपने स्वभाव को सरल बना दो तो समय व्यर्थ नहीं जायेगा।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 31 July 2017 :- Click Here

Font Resize