19 NOVEMBER ki murli

TODAY MURLI 19 NOVEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 19 November 2020

19/11/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, this whole world is a big hospital of the diseased. Baba has come to make the whole world free from disease.
Question: Which awareness should you have so that you never wilt or experience waves of sorrow?
Answer: We are now to leave these old bodies and this old world and return home and then take rebirth in the new world. We are now studying Raja Yoga in order to go to the kingdom. The Father is establishing the spiritual land of kings (Rajasthan) for us children. When you maintain this awareness, there will be no waves of sorrow.
Song: You are the Mother and You are the Father.

Om shanti. This song is not for you children; it is played to explain to new ones. It isn’t that everyone here is sensible. No; it is those who are senseless who have to be made sensible. You children understand how senseless you became. The Father is now making you sensible, just as students in schools become sensible by studying. They become barristers or engineersaccording to their understanding. Here, you souls are made sensible. It is souls that study through bodies. However, the education you receive outside for the livelihood of your bodies is for a temporary period. Some Hindus convert to Christianity. Why do they do that? In order to attain a little happiness, in order to get a job easily and earn money for their livelihood. You children now know that you first of all have to become soul conscious. This is the main thing because this world is diseased. There isn’t a single human being who isn’t diseased; there is definitely one disease or another. This whole world is the biggest hospital in which all human beings are impure and diseased. Their lifespans are also very short. They experience sudden death; they are taken by the claws of death. Only you children understand these things. You children serve not only Bharat but the whole world in an incognito way. The main thing is that no one knows the Father. Although they are human beings, they don’t know the Father from beyond this world; they have no love for Him. The Father says: Now have love for Me! While having love for Me, you will return home with Me. You have to stay in this dirty world until you return home. First of all, from being body conscious, become soul conscious! Only then will you be able to imbibe this knowledge and remember the Father. Those who don’t become soul conscious are of no use. Everyone is body conscious. You understand that if you don’t become soul conscious and remember the Father, you become as you were before. The main thing is to become soul conscious, it is not to know creation. The knowledge of the Creator and creation is remembered. It isn’t said: Knowledge of creation first and then the Creator. No; first is the Creator who is the Father. It is said: O God, the Father! He comes and makes you children equal to Himself. The Father is always soul conscious and this is why He is the Supreme. The Father says: I am soul conscious. I make the one I enter soul conscious. I enter him in order to convert him because he too was body conscious. I tell him: Consider yourself to be a soul and have accurate remembrance of Me. There are many people who believe that souls are separate from human beings. Since the soul leaves the body, it means there must be the two things. The Father explains that each of you is a soul. It is souls that take rebirth. Souls adopt bodies and play their parts. Baba repeatedly says: Consider yourself to be a soul! This requires great effort. Students go to a garden in order to study in solitude. When priests go for a walk they do so in silence. They don’t remain soul conscious; they just stay in remembrance of Christ. They can even remember him while staying at home, but they especially stay in solitude and remember Christ and don’t look anywhere else. Those who are very good believe that while remembering Christ they will go to him. They believe that Christ is sitting in heaven and that they will also go to heaven. They also believe that Christ has gone to Heavenly God, the Father,and that they too will go to Him by having remembrance of Him. All Christians are children of that One. They have some correct knowledge because the Christ soul hasn’t gone back home up above. The name “Christ” is of the body that was put on the cross. A soul cannot be put on a cross. It is wrong to say that the Christ soul went to God, the Father. How can anyone return home yet? Each founder of a religion definitely has to sustain his religion after establishing it. When a building is whitewashed, that too is sustenance. You now have to remember the unlimited Father. No one but the unlimited Father can give you this knowledge. You have to benefit yourselves. From being diseased, you have to become free from disease. This is a big hospital of the diseased. The whole world is a hospital of the diseased. Those who are diseased will definitely die quickly. The Father comes and makes the whole world free from disease. It isn’t that you will become free from disease here. The Father says: It is in the new world that you are free from disease. You cannot become free from disease in the old world. Lakshmi and Narayan are free from disease, everhealthy. They have long lifespans there. Those who are vicious are diseased. Those who are viceless are not diseased; they are completely viceless. The Father Himself says: At this time, the whole world in general, and Bharat in particular, is diseased. You children first come into the world that is free from disease. It is by staying on the pilgrimage of remembrance that you become free from disease. By having remembrance, you will go to your sweet home. This too is a pilgrimage. Souls are on a pilgrimage to the Father, the Supreme Soul. This is a spiritual pilgrimage. No one else can understand these words. You also understand this, numberwise, but you forget it. This is the main thing; it is very easy to explain. However, only those who stay on the spiritual pilgrimage themselves can explain to others. If you yourself are not on this pilgrimage and try to tell others, your arrow will not strike the target. There has to be the power of truth. We remember Baba so much! A wife remembers her husband so much. That one is the Husband of all husbands, the Father of all fathers and the Guru of all gurus. Gurus too remember that one Father. Even Christ used to remember the Father, but no one knows Him. Only when the Father comes can He give His introduction. The people of Bharat don’t know the Father, so how can others know Him? People come from abroad to learn yoga. They believe that God taught ancient yoga. They have faith in this. The Father says: Only once, every cycle, do I come and teach you true yoga. The main thing is to consider yourself to be a soul and to remember the Father. This is known as spiritual yoga. All the others are physical yogas. They have yoga with the brahm element (element of light). That is not the Father, that is the great element, the place of residence. Only the one Father is right. Only the one Father is called the Truth. The people of Bharat don’t know how the Father is the Truth. Only He establishes the land of truth. There are the land of truth and the land of falsehood. When you are living in the land of truth, Ravan’s kingdom doesn’t exist. It is after half the cycle that the kingdom of Ravan, the land of falsehood, begins. The whole of the golden age is said to be the land of truth. The end of the iron age is the land of falsehood. You are now sitting at the confluence; you are neither here nor there. You are now travelling. It is souls that travel, not the bodies. The Father comes and teaches you how to travel. He teaches you how to go there from here. Those people then travel to the moon and stars etc. You now know that there is no benefit in that. It will be through those things that destruction will take place. All the efforts that they are making are useless. You know that all the things that are being created through science are going to be useful to you in the future. This drama is predestined. The unlimited Father comes and teaches you. Therefore, you should have so much regard for Him. There is generally a lot of regard for teachers. A teacher instructs you to study well and pass. If you don’t obey your teacher, you fail. The Father says: I teach you to make you into the masters of the world. Lakshmi and Narayan are the masters. Although their subjects too are masters, there are varieties of status. All the people of Bharat say that they are its masters. Even the poor consider themselves to be the masters of Bharat. However, there is a difference between a king and them. The difference in status is because of knowledge. One has to be clever in knowledge. Purity too is essential; health and wealth are also required. There is everything in heaven. The Father explains the aim and objective to you. No one else in the world has this aim and objective in his intellect. You instantly say that this is what you are becoming. Our kingdom will be over the whole world. It is now government of the people by the people. At first, there were those who were doublecrowned, then those with a single crown and now those with no crown. Baba told you in a murli to make a picture of those with a single crown bowing down to kings with a double crown. The Father says: I am now making you into the double-crowned kings of kings. They are kings for a short time, whereas here it is a matter of 21 births. The first and main thing is to become pure. You called out to Me to come and purify the impure. You didn’t ask to be made into kings. You children now have unlimited renunciation. You will leave this world and go home and then go to heaven. You should have this happiness inside you. Since you understand that you are going home and then to your kingdom, why do you wilt and experience sorrow? We souls will go home and then take rebirth in the new world. Why do you children not experience permanent happiness? It is because there is a lot of opposition from Maya that your happiness decreases. The Purifier Himself says: Remember Me and your sins of many births will be burnt away. You become swadarshanchakradhari. You know that you will go to your kingdom of Rama. There have been many different types of king here. There is now going to be the spiritual Rajasthan (the land of kings). You will become the masters of heaven. Christians do not understand what is meant by heaven. They call the land of liberation heaven. It isn’t that Heavenly God, the Father, lives in heaven. He lives in the land of peace. You are now making effort to go to Paradise. You have to show this difference. God, the Father, is the One who resides in the land of liberation whereas the new world is called heaven. Only the Father comes and establishes Paradise. The place that you call the land of peace, they call heaven. All of these things have to be understood. The Father says: This knowledge is very easy. This is the knowledge to become pure and to go to the lands of liberation and liberation-in-life. Only the Father gives this knowledge. When someone is about to be put on the gallows, he understands inside that he is going to God. The executioner tells him to remember God, even though neither of them knows God. That one only remembers his friends and relatives at that time. It is remembered: Someone who remembers his wife at the end… He would definitely remember someone or another. It is only in the golden age that they are conquerors of attachment. There, they know that they will shed their bodies and take new ones. There is no need to have remembrance there. This is why it is said: Everyone remembers God at times of sorrow. There is sorrow here. Therefore, they remember Him hoping to receive something from God. There, they will have already received everything. You can say that your aim is to make human beings into theists and make them belong to the Lord and Master. At this time, all are orphans. We now belong to the Lord and Master. Only the Father gives the inheritance of happiness, peace and prosperity. Lakshmi and Narayan live long lives. You also know that the people of Bharat previously used to live long lives. Now they have short lives. No one knows why it has become so short. It is very easy for you to understand this and then explain to others. This too is numberwise. Each one’s explanation is his own. Each of you explains according to how much you have imbibed. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost, now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Just as the Father is always soul conscious, so you too should make full effort to remain soul conscious. By your heart loving the one Father you will return home with Him.
  2. Pay full regard to the unlimited Father, that is, follow the Father’s instructions. The Father’s first instruction is: Children, study well and pass! Follow this instruction.
Blessing: May you sacrifice all consciousness of the self with a balance of sense and essence and thereby become a world transformer.
Sense means understandingpoints of knowledge and understanding and essence means having the awareness of being an embodiment of all powers as an embodiment of power. If you have a balance of these two, all consciousness of the self and all old things will be sacrificed. By sacrificing every second, every thought, every word and every action for the service of world transformation, you will automatically become a world transformer. Those who sacrifice themselves and the awareness of their own bodies are easily able to transform the atmosphere with their elevated vibrations.
Slogan: Remember your attainments and things of sorrow and distress will be forgotten.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 19 NOVEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 19 November 2020

Murli Pdf for Print : – 

19-11-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“ मीठे बच्चे – यह सारी दुनिया रोगियों की बड़ी हॉस्पिटल है , बाबा आये हैं सारी दुनिया को निरोगी बनाने ”
प्रश्नः- कौन-सी स्मृति रहे तो कभी भी मुरझाइस वा दु:ख की लहर नहीं आ सकती है?
उत्तर:- अभी हम इस पुरानी दुनिया, पुराने शरीर को छोड़ घर में जायेंगे फिर नई दुनिया में पुनर्जन्म लेंगे। हम अभी राजयोग सीख रहे हैं – राजाई में जाने के लिए। बाप हम बच्चों के लिए रूहानी राजस्थान स्थापन कर रहे हैं, यही स्मृति रहे तो दु:ख की लहर नहीं आ सकती।
गीत:- तुम्हीं हो माता…….. Audio Player

ओम् शान्ति। गीत कोई तुम बच्चों के लिए नहीं हैं, नये-नये को समझाने के लिए हैं। ऐसे भी नहीं कि यहाँ सब समझदार ही हैं। नहीं, बेसमझ को समझदार बनाया जाता है। बच्चे समझते हैं हम कितने बेसमझ बन गये थे, अब बाप हमको समझदार बनाते हैं। जैसे स्कूल में पढ़कर बच्चे कितना समझदार बन जाते हैं। हर एक अपनी-अपनी समझ से बैरिस्टर, इन्जीनियर आदि बनते हैं। यह तो आत्मा को समझदार बनाना है। पढ़ती भी आत्मा है शरीर द्वारा। परन्तु बाहर में जो भी शिक्षा मिलती है, वह है अल्पकाल के लिए शरीर निर्वाह अर्थ। भल कोई कनवर्ट भी करते हैं, हिन्दुओं को क्रिश्चियन बना देते हैं – किसलिए? थोड़ा सुख पाने के लिए। पैसे नौकरी आदि सहज मिलने के लिए, आजीविका के लिए। अब तुम बच्चे जानते हो हमको पहले-पहले तो आत्म-अभिमानी बनना पड़े। यह है मुख्य बात क्योंकि यह है ही रोगी दुनिया। ऐसा कोई मनुष्य नहीं जो रोगी नहीं बनता हो। कुछ न कुछ होता जरूर है। यह सारी दुनिया बड़े ते बड़ी हॉस्पिटल है, जिसमें सब मनुष्य पतित रोगी हैं। आयु भी बहुत कम होती है। अचानक मृत्यु को पा लेते हैं। काल के चम्बे में आ जाते हैं। यह भी तुम बच्चे जानते हो। तुम बच्चे सिर्फ भारत की ही नहीं, सारे विश्व की सर्विस करते हो गुप्त रीति। मूल बात है कि बाप को कोई नहीं जानते। मनुष्य होकर और पारलौकिक बाप को नहीं जानते, उनसे प्यार नहीं रखते। अब बाप कहते हैं मेरे साथ प्यार रखो। मेरे साथ प्यार रखते-रखते तुमको मेरे साथ ही वापिस चलना है। जब तक वापिस चलो तब तक इस छी-छी दुनिया में रहना पड़ता है। पहले-पहले तो देह-अभिमानी से देही-अभिमानी बनो तब तुम धारणा कर सकते हो और बाप को याद कर सकते हो। अगर देही-अभिमानी नहीं बनते तो कोई काम के नहीं। देह-अभिमानी तो सब हैं। तुम समझते भी हो कि हम आत्म-अभिमानी नहीं बनते, बाप को याद नहीं करते तो हम वही हैं जो पहले थे। मूल बात ही है देही-अभिमानी बनने की। न कि रचना को जानने की। गाया भी जाता है रचता और रचना का ज्ञान। ऐसे नहीं कि पहले रचना फिर रचता का ज्ञान कहेंगे। नहीं, पहले रचता, वही बाप है। कहा भी जाता है-हे गॉड फादर। वह आकर तुम बच्चों को आपसमान बनाते हैं। बाप तो सदैव आत्म-अभिमानी है ही इसलिए वह सुप्रीम है। बाप कहते हैं मैं तो आत्म-अभिमानी हूँ। जिसमें प्रवेश किया है उनको भी आत्म-अभिमानी बनाता हूँ। इनमें प्रवेश करता हूँ इनको कनवर्ट करने क्योंकि यह भी देह-अभिमानी थे, इनको भी कहता हूँ अपने को आत्मा समझ मुझे यथार्थ रीति याद करो। ऐसे बहुत मनुष्य हैं जो समझते हैं आत्मा अलग है, जीव अलग है। आत्मा देह से निकल जाती है तो दो चीज़ हुई ना। बाप समझाते हैं तुम आत्मा हो। आत्मा ही पुनर्जन्म लेती है। आत्मा ही शरीर लेकर पार्ट बजाती है। बाबा बार-बार समझाते हैं अपने को आत्मा समझो, इसमें बड़ी मेहनत चाहिए। जैसे स्टूडेण्ट पढ़ने के लिए एकान्त में, बगीचे आदि में जाकर पढ़ते हैं। पादरी लोग भी घूमने जाते हैं तो एकदम शान्त रहते हैं। वह कोई आत्म-अभिमानी नहीं रहते। क्राइस्ट की याद में रहते हैं। घर में रहकर भी याद तो कर सकते हैं परन्तु खास एकान्त में जाते हैं क्राइस्ट को याद करने और कोई तरफ देखते भी नहीं। जो अच्छे-अच्छे होते हैं, समझते हैं हम क्राइस्ट को याद करते-करते उनके पास चले जायेंगे। क्राइस्ट हेविन में बैठा है, हम भी हेविन में चले जायेंगे। यह भी समझते हैं क्राइस्ट हेविनली गॉड फादर के पास गया। हम भी याद करते-करते उनके पास जायेंगे। सब क्रिश्चियन उस एक के बच्चे ठहरे। उनमें कुछ ज्ञान ठीक है। क्योंकि क्राइस्ट की आत्मा तो ऊपर गई ही नहीं। क्राइस्ट नाम तो शरीर का है, जिसको फाँसी पर चढ़ाया। आत्मा तो फाँसी पर नहीं चढ़ती है। अब क्राइस्ट की आत्मा गॉड फादर के पास गई, यह कहना भी रांग हो जाता है। वापिस कोई कैसे जायेंगे? हर एक को स्थापना फिर पालना जरूर करनी होती है। मकान को पोताई आदि कराई जाती है, यह भी पालना है ना।

अब बेहद के बाप को तुम याद करो। यह नॉलेज बेहद के बाप के सिवाए कोई दे न सके। अपना ही कल्याण करना है। रोगी से निरोगी बनना है। यह रोगियों की बड़ी हॉस्पिटल है। सारी विश्व रोगियों की हॉस्पिटल है। रोगी जरूर जल्दी मर जायेंगे, बाप आकर इस सारे विश्व को निरोगी बनाते हैं। ऐसे नहीं कि यहाँ ही निरोगी बनेंगे। बाप कहते हैं – निरोगी होते ही हैं नई दुनिया में। पुरानी दुनिया में निरोगी हो न सकें। यह लक्ष्मी-नारायण निरोगी, एवरहेल्दी हैं। वहाँ आयु भी बड़ी होती है, रोगी विशश होते हैं। वाइसलेस रोगी नहीं होते। वह है ही सम्पूर्ण निर्विकारी। बाप खुद कहते हैं इस समय सारी विश्व, खास भारत रोगी है। तुम बच्चे पहले-पहले निरोगी दुनिया में आते हो, निरोगी बनते हो याद की यात्रा से। याद से तुम चले जायेंगे अपने स्वीट होम। यह भी एक यात्रा है। आत्मा की यात्रा है, बाप परमात्मा के पास जाने की। यह है स्प्रीचुअल यात्रा। यह अक्षर कोई समझ नहीं सकेंगे। तुम भी नम्बरवार जानते हो, परन्तु भूल जाते हो। मूल बात है यह, समझाना भी बहुत सहज है। परन्तु समझाये वह जो खुद भी रूहानी यात्रा पर हो। खुद होगा नहीं, दूसरे को बतायेंगे तो तीर नहीं लगेगा। सच्चाई का जौहर चाहिए। हम बाबा को इतना याद करते हैं जो बस। स्त्री पति को कितना याद करती है। यह है पतियों का पति, बापों का बाप, गुरूओं का गुरू। गुरू लोग भी उस बाप को ही याद करते हैं। क्राइस्ट भी बाप को ही याद करते थे। परन्तु उनको कोई जानते नहीं हैं। बाप जब आये तब आकर अपनी पहचान देवे। भारतवासियों को ही बाप का पता नहीं है तो औरों को कहाँ से मिल सकता। विलायत से भी यहाँ आते हैं, योग सीखने के लिए। समझते हैं प्राचीन योग भगवान ने सिखाया। यह है भावना। बाप समझाते हैं सच्चा-सच्चा योग तो मैं ही कल्प-कल्प आकर सिखलाता हूँ, एक ही बार। मुख्य बात है अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो, इसको ही रूहानी योग कहा जाता है। बाकी सबका है जिस्मानी योग। ब्रह्म से योग रखते हैं। वह भी बाप तो नहीं है। वह तो महतत्व है, रहने का स्थान। तो राइट एक ही बाप है। एक बाप को ही सत्य कहा जाता है। यह भी भारतवासियों को पता नहीं कि बाप ही सत्य कैसे है। वही सचखण्ड की स्थापना करते हैं। सचखण्ड और झूठ खण्ड। तुम जब सचखण्ड में रहते हो तो वहाँ रावण राज्य ही नहीं होता। आधाकल्प बाद रावण राज्य झूठ खण्ड शुरू होता है। सच खण्ड पूरा सतयुग को कहेंगे। फिर झूठ खण्ड पूरा कलियुग का अन्त। अभी तुम संगम पर बैठे हो। न इधर हो, न उधर हो। तुम ट्रेवल (यात्रा) कर रहे हो। आत्मा ट्रेवल कर रही है, शरीर नहीं। बाप आ करके यात्रा करना सिखलाते हैं। यहाँ से वहाँ जाना है। तुमको यह सिखलाते हैं। वो लोग फिर स्टॉर्स मून आदि तरफ जाने की ट्रेवल करते हैं। अभी तुम जानते हो उनमें कोई फायदा नहीं। इन चीज़ों से ही सारा विनाश होना है। बाकी जो भी इतनी मेहनत करते हैं सब व्यर्थ। तुम जानते हो यह सब चीज़ें जो साइंस से बनती हैं वह भविष्य में तुम्हारे ही काम आयेंगी। यह ड्रामा बना हुआ है। बेहद का बाप आकर पढ़ाते हैं तो कितना रिगार्ड रखना चाहिए। टीचर का वैसे भी बहुत रिगार्ड रखते हैं। टीचर फरमान करते हैं – अच्छी रीति पढ़कर पास हो जाओ। अगर फरमान को नहीं मानेंगे तो नापास हो जायेंगे। बाप भी कहते हैं तुमको पढ़ाते हैं विश्व का मालिक बनाने। यह लक्ष्मी-नारायण मालिक हैं। भल प्रजा भी मालिक है, परन्तु दर्जे तो बहुत हैं ना। भारतवासी भी सब कहते हैं ना – हम मालिक हैं। गरीब भी भारत का मालिक अपने को समझेगा। परन्तु राजा और उनमें फ़र्क कितना है। नॉलेज से मर्तबे का फर्क हो जाता है। नॉलेज में भी होशियारी चाहिए। पवित्रता भी जरूरी है तो हेल्थ-वेल्थ भी चाहिए। स्वर्ग में सब हैं ना। बाप एम ऑब्जेक्ट समझाते हैं। दुनिया में और कोई की बुद्धि में यह एम आब्जेक्ट होगी नहीं। तुम फट से कहेंगे हम यह बनते हैं। सारे विश्व में हमारी राजधानी होगी। यह तो अभी पंचायती राज्य है। पहले थे डबल ताजधारी फिर एक ताज अभी नो ताज। बाबा ने मुरली में कहा था – यह भी चित्र हो – डबल सिरताज राजाओं के आगे सिंगल ताज वाले माथा झुकाते हैं। अभी बाप कहते हैं मैं तुमको राजाओं का राजा डबल सिरताज बनाता हूँ। वह है अल्पकाल के लिए, यह है 21 जन्मों की बात। पहली मुख्य बात है पावन बनने की। बुलाते भी हैं कि आकर पतित से पावन बनाओ। ऐसे नहीं कहते कि राजा बनाओ। अभी तुम बच्चों का है बेहद का संन्यास। इस दुनिया से ही चले जायेंगे अपने घर। फिर हेविन में आयेंगे। अन्दर में खुशी रहनी चाहिए जबकि समझते हैं हम घर जायेंगे फिर राजाई में आयेंगे फिर मुरझा-इस दु:ख आदि यह सब क्यों होना चाहिए। हम आत्मा घर जायेंगी फिर पुनर्जन्म नई दुनिया में लेंगी। बच्चों को स्थाई खुशी क्यों नहीं रहती है? माया का आपोजीशन बहुत है इसलिए खुशी कम हो जाती है। पतित-पावन खुद कहते हैं मुझे याद करो तो तुम्हारे जन्म-जन्मान्तर के पाप भस्म हो जायेंगे। तुम स्वदर्शन चक्रधारी बनते हो। जानते हो फिर हम अपने राजस्थान में चले जायेंगे। यहाँ भिन्न-भिन्न प्रकार के राजायें हुए हैं, अब फिर रूहानी राजस्थान बनना है। स्वर्ग के मालिक बन जायेंगे। क्रिश्चियन लोग हेविन का अर्थ नहीं समझते हैं। वह मुक्तिधाम को हेविन कह देते हैं। ऐसे नहीं कि हेविनली गॉड फादर कोई हेविन में रहते हैं। वह तो रहते ही हैं शान्तिधाम में। अभी तुम पुरूषार्थ करते हो पैराडाइज में जाने के लिए। यह फ़र्क बताना है। गॉड फादर है मुक्तिधाम में रहने वाला। हेविन नई दुनिया को कहा जाता है। फादर ही आकर पैराडाइज स्थापन करते हैं। तुम जिसको शान्तिधाम कहते हो उनको वो लोग हेविन समझते हैं। यह सब समझने की बातें हैं।

बाप कहते हैं नॉलेज तो बहुत सहज है। यह है पवित्र बनने की नॉलेज, मुक्ति-जीवनमुक्ति में जाने की नॉलेज, जो बाप ही दे सकते हैं। जब किसको फाँसी दी जाती है तो अन्दर में यही रहता है हम भगवान पास जाते हैं। फाँसी देने वाले भी कहते हैं गॉड को याद करो। गॉड को जानते दोनों नहीं हैं। उनको तो उस समय मित्र-सम्बन्धी आदि जाकर याद पड़ते हैं। गायन भी है अन्तकाल जो स्त्री सिमरे…… कोई न कोई याद जरूर रहता है। सतयुग में ही मोहजीत रहते हैं। वहाँ जानते हैं एक खाल छोड़ दूसरी ले लेंगे। वहाँ याद करने की दरकार नहीं इसलिए कहते हैं दु:ख में सिमरण सब करें……. यहाँ दु:ख है इसलिए याद करते हैं भगवान से कुछ मिले। वहाँ तो सब कुछ मिला ही हुआ है। तुम कह सकते हो हमारा उद्देश्य है मनुष्य को आस्तिक बनाना, धणी का बनाना। अभी सब निधन के हैं। हम धणका बनते हैं। सुख, शान्ति, सम्पत्ति का वर्सा देने वाला बाप ही है। इन लक्ष्मी-नारायण की कितनी बड़ी आयु थी। यह भी जानते हैं भारतवासियों की पहले-पहले आयु बहुत बड़ी रहती थी। अब छोटी है। क्यों छोटी हुई है-यह कोई भी नहीं जानते। तुम्हारे लिए तो बहुत सहज हो गया है समझना और समझाना। सो भी नम्बरवार हैं। समझानी हर एक की अपनी-अपनी है, जो जैसी धारण करते हैं ऐसे समझाते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) जैसे बाप सदैव आत्म-अभिमानी हैं, ऐसे आत्म-अभिमानी रहने का पूरा-पूरा पुरूषार्थ करना है। एक बाप को दिल से प्यार करते-करते बाप के साथ घर चलना है।

2) बेहद के बाप का पूरा-पूरा रिगार्ड रखना है अर्थात् बाप के फरमान पर चलना है। बाप का पहला फरमान है – बच्चे अच्छी रीति पढ़कर पास हो जाओ। इस फरमान को पालन करना है।

वरदान:- सेन्स और इसेन्स के बैलेन्स द्वारा अपनेपन को स्वाहा करने वाले विश्व परिवर्तक भव
सेन्स अर्थात् ज्ञान की पाइंटस, समझ और इसेन्स अर्थात् सर्व शक्ति स्वरूप स्मृति और समर्थ स्वरूप। इन दोनों का बैलेन्स हो तो अपनापन वा पुरानापन स्वाहा हो जायेगा। हर सेकण्ड, हर संकल्प, हर बोल और हर कर्म विश्व परिवर्तन की सेवा प्रति स्वाहा होने से विश्व परिवर्तक स्वत:बन जायेंगे। जो अपनी देह की स्मृति सहित स्वाहा हो जाते हैं उनके श्रेष्ठ वायब्रेशन द्वारा वायुमण्डल का परिवर्तन सहज होता है।
स्लोगन:- प्राप्तियों को याद करो तो दुख व परेशानी की बातें भूल जायेंगी।

TODAY MURLI 19 NOVEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 19 November 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 18 November 2018 :- Click Here

19/11/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, purify the atmosphere with the power of gyan and yoga. Conquer Maya with the discus of self-realisation.
Question: Which one aspect proves that souls never merge into the light?
Answer: It is said: That which is predestined is taking place. Therefore, each soul surely repeats his part. If you say that the light merges into the light, the part would also come to an end. In that case, it would be wrong to say that the drama is eternal. A soul sheds an old costume and takes a new one; it does not merge into anything.
Song: O Traveller of the faraway land!

Om shanti. The children who are yogi and gyani and are able to explain the meaning of this song to others must understand the meaning of it accurately. All human beings are buried in the graveyard. Those whose lights have become extinguished and who are tamopradhan are said to be buried in the graveyard. Those who carried out establishment and who were instruments for sustenance for birth after birth have now completed all their births. You can calculate which religions have been established from the beginning to the end. In limited plays, there is regard mainly for the creator, the director and the principal actor of the play. They receive so many prizes ; they show their splendour. Your splendour is that of knowledge and yoga. People don’t know that death is just ahead of them or how many births they take in this drama or where they come from. You and I can’t know the detail s of all the births. However, at this time, we are making effort for the future. You will become deities, but what status will you claim? You have to make effort for that. You know that Lakshmi and Narayan have taken 84 births. They will definitely become the King and Queen. You know their features. Baba gives you visions in a practical way. Even on the path of devotion people have visions; they have visions of whomever they meditate on. If they look at a picture of the bluish Krishna and they meditate on that, the vision they have will be of that one. However, Krishna isn’t like that. People don’t have any knowledge of these things. You are now here in the practical form. You see him in the subtle region and also in Paradise. You have the knowledge of souls and of God. People only have visions of a soul. You have knowledge of everything you have a vision of. Although people outside have visions of a soul, they don’t have knowledge of it. They say that each soul is the Supreme Soul. A soul is truly a star. Many of those are visible. There are as many souls as there are human beings. The body of a person is visible with these eyes but the soul can be seen with divine vision. People have different features, but souls are not different; all are the same. It is just that the part of every soul is different. Human beings are big or small whereas souls are not bigger or smaller; the size of souls is the same. If a soul were to merge into the light, how would he repeat his part? It is remembered that that which was destined is taking place. This eternal world drama continues to rotate. You children know this. Souls return home like mosquitoes. Mosquitoes can be seen with these eyes. Souls cannot be seen except through divine vision. In the golden age, there is no need to have a vision of souls. There, you understand that you, the soul, have to shed an old body and take another new one. They don’t know God at all. If they were to know God, they would also know the world cycle. In the song, it says: Also take me with You. At the end, they repent a great deal. Everyone receives an invitation. So many methods are invented to give them an invitation. Everyone speaks of peace, but no one understands the meaning of peace. You know how peace can be achieved. Just as mustard seeds are crushed in a mortar with a pestle, in the same way, everyone’s body will be destroyed in destruction. Souls will not be crushed; they will return home. It is written that souls run away like mosquitoes. It isn’t that all Supreme Souls will run away! People don’t understand anything. They don’t know what the difference is between souls and the Supreme Soul. They say that they are all brothers, and so they should live like brothers. They don’t know that in the golden age all brothers and all brothers and sisters live together like milk and sugar. There is no question of salt water there. Here, one moment, they are like milk and sugar and the next moment, they become like salt water. On the one hand, they say that the Chinese and the Hindus are brothers and then they make effigies and continue to burn them. Look at the condition of physical brothers! They don’t know about spiritual relationships at all. The Father explains to you: You have to consider yourselves to be souls. You mustn’t become trapped in body consciousness. Some people become trapped in body consciousness. The Father says: You have to renounce all the relationships of the body, including your own body. Forget this building etc. Originally, you are residents of the supreme abode. You now have to return to where you came from to play your parts. Then I will send you into happiness. So the Father says: You have to become worthy. God is establishing a kingdom. Christ did not have a kingdom. It was later when there were hundreds of thousands of Christians that they would have created their kingdom. Here, the golden-aged kingdom is created instantly. It is such an easy matter. Truly, God came and carried out establishment. By inserting Krishna’s name, they have confused everything. Ancient Raja Yoga and knowledge are mentioned in the Gita. They disappear. The English words are good. You would say that Baba doesn’t know English. Baba says: To what extent would I sit and speak in all the languages? The main language is Hindi. So, I speak the murli in Hindi. The one whose body I have adopted also speaks Hindi. Therefore, I also speak the same language that he speaks. I would not teach you in any other language. If I were to speak French, how would this one understand? The main question is about this one (Brahma). He has to understand first. I would not take the body of anyone else. It also says in the song: “Take me with You.” No one knows about the Father or His home. They continue to tell lies. There are innumerable opinions of all the people and this is why the thread has become tangled. Look how the Father is sitting here! Whose feet are these? (Shiv Baba’s.) They are my feet; I have given them on loan. Shiv Baba only uses them temporarily, but otherwise they are my feet. They don’t show feet in the Shiva Temple; they show Krishna’s feet. Shiva is the Highest on High, and so where could His feet come from? Yes, Shiv Baba has taken them on loan, but they are Brahma’s feet. They have shown a bull in the temples. How could He ride a bull? How would Shiv Baba sit on a bull? The saligram soul rides the human body. The Father says: The knowledge that I spoke to you has disappeared. It remains just like a pinch of salt in a sackful of flour. No one can understand it. I Myself come and speak the essence of it to you. I gave you shrimat and explained the secrets of the world cycle to you, and they then gave the discus of self-realisation to the deities. They don’t have any knowledge. All of these things are matters of knowledge. Souls receive knowledge of the world cycle with which Maya’s head is cut off. They have then shown the discus of self-realisation being thrown at devils. You gain victory over Maya with this discus of self-realisation. They have taken the things of one time period into another. Amongst you too, scarcely a few are able to imbibe these things and then relate them to others. The knowledge is elevated and it takes time. At the end, there will just be the powers of knowledge and yoga in you. This is fixed in the drama. Their intellects are continuing to become soft. You are purifying the atmosphere. This knowledge is so incognito. It is written that sinners like Ajamil were also uplifted, but no one understands the meaning of that. They believe that souls merge into the light or that they merged into the ocean, that the five Pandavas melted on the Himalayas and that annihilation took place. On the one hand, they have shown that they studied Raja Yoga and they have then shown annihilation. Then they have shown Krishna coming, floating on a pipal leaf sucking his thumb. They don’t understand the meaning of that either. That was the palace of a womb. A baby would be sucking his thumb. They have taken the things of one place somewhere else. People continue to say “It’s true, it’s true” to whatever is said. No one knows the golden age. Anything that doesn’t exist is said to be false. For instance, they say that God doesn’t have a name or form, but they continue to worship Him. So, God is extremely subtle. There isn’t anything as subtle as He is. He is an absolutely tiny point. It is because He is so subtle that no one knows Him. Although the sky is also said to be subtle, it is called space. There are the five elements. He comes and enters a body of the five elements. He is so subtle. He is an absolutely tiny point. A star is so tiny. Only when God, the Star, comes and sits next to this one can He speak. These are such subtle matters. Those with gross intellects cannot understand anything. The Father explains such good things. According to the drama, whatever part He played in the previous cycle, He is playing that part now. You children understand that Baba comes every day and tells us new points. Therefore, that would be new knowledge, would it not? So, you have to study every day. When a student doesn’t go to class every day, he asks his friend what happened in class that day. Here, some completely stop studying. That’s it! They simply say that they don’t want their inheritance of the imperishable jewels of knowledge. Oh, but what will become of you if you stop studying? What inheritance will you receive from the Father? That’s it! It isn’t in their fortune. Here, it is not a question of physical property. You receive the treasures of knowledge from the Father. All of that property is going to be destroyed. No one can have intoxication about that. Only from the Father will you receive your inheritance. Although you have property worth millions, all of it is also going to turn to dust. All of that refers to the present time. It is also written: Some people’s wealth will remain buried underground, some people’s wealth will be burnt… The things of the present time then continue to happen until the end. Destruction now has to take place. After destruction, there will be establishment. Establishment is now taking place. That is our kingdom. You are not doing anything for anyone else; whatever you do, you are doing that for yourself. Those who follow shrimat will become the masters. You become the masters of the new Bharat in the new world. You were the masters in the new world, that is, in the golden age. This is now the old age and you are inspired to make effort for the new world. These are such good things to understand. This is knowledge of souls and the Supreme Soul: selfrealisation. Who is the Father of the self? The Father says: I come to teach you souls. You have now realised the Father through the Father. The Father explains: You are My long-lost and now-found children. You have come and met Me again after a cycle in order to claim your inheritance. So you should make effort, should you not? Otherwise, you will have to repent a great deal and there will have to be a lot of punishment. Don’t even ask about those who become children and then perform wrong actions! Look how much Baba’s part is in the drama! He gave away everything. Baba then says: I will give you the return in the future for 21 births. Previously, you would give indirectly and so I would give you the return of that for just one future birth. You are now giving directly and so I insure it for you for 21 births. There is so much difference between directand indirect. Those people insure themselves with God for the copper and iron ages. You insure everything for the golden and silver ages. Because it is direct, you receive the return for 21 births. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, numberwise, according to the effort you make, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Take the treasure of the imperishable jewels of knowledge from the eternal Father and become fortunate. Study the new knowledge and the new study every day. Do the service of making the atmosphere pure.
  2. 2. Insure everything of yours for your future 21 births. After belonging to the Father, don’t perform any wrong actions.
Blessing: May you die alive and by being showered with the nectar of knowledge become great from being a corpse.
Previously, you were burning on a pyre of worries but the Father has now showered you with the nectar of knowledge and made you die alive. He has brought you from the burning pyre back to life. The Father gave you nectar to drink and made you immortal. Previously, you were like a dead corpse and now, you have become great from being a corpse. Previously, people used to say that God made corpses come back to life but they didn’t know how He did that. Now you have the happiness that the Father has lifted you off from the burning pyre and made you immortal.
Slogan: Those who remain stable in their religion and perform actions are righteous souls.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 19 NOVEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 19 November 2018

To Read Murli 18 November 2018 :- Click Here
19-11-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – ज्ञान योग की शक्ति से वायुमण्डल को शुद्ध बनाना है, स्वदर्शन चक्र से माया पर जीत पानी है”
प्रश्नः- किस एक बात से सिद्ध हो जाता है कि आत्मा कभी भी ज्योति में लीन नहीं होती?
उत्तर:- कहते हैं बनी बनाई बन रही…….. तो जरूर आत्मा अपना पार्ट रिपीट करती है। अगर ज्योति ज्योत में लीन हो जाए तो पार्ट समाप्त हो गया फिर अनादि ड्रामा कहना भी ग़लत हो जाता है। आत्मा एक पुराना चोला छोड़ दूसरा नया लेती है, लीन नहीं होती।
गीत:- ओ दूर के मुसाफिर…….. 

ओम् शान्ति। अब जो योगी और ज्ञानी बच्चे हैं, जो औरों को समझा सकते हैं, वह इस गीत का अर्थ यथार्थ रीति समझ सकते हैं। जो भी मनुष्य मात्र हैं सब कब्रदाखिल हैं। कब्रदाखिल उनको कहा जाता है जिनकी ज्योति उझाई हुई होती है, जो तमोप्रधान हैं। जिन्होंने स्थापना की है और जन्म बाई जन्म पालना अर्थ निमित्त बने हुए हैं, उन सबने अपने जन्म पूरे कर लिए हैं। आदि से लेकर अन्त तक किस-किस धर्म की स्थापना हुई है – हिसाब निकाल सकते हैं। हद का जो नाटक होता है उसमें भी मुख्य ड्रामा के क्रियेटर, डायरेक्टर, एक्टर जो होते हैं, उनका ही मान होता है। कितनी प्राइज़ मिलती है। जलवा दिखलाते हैं ना। तुम्हारा फिर है ज्ञान-योग का जलवा। अब मनुष्यों को यह तो पता नहीं है कि मौत सामने है, हम इस ड्रामा में कितने जन्म लेते हैं, कहाँ से आते हैं? डिटेल सभी जन्मों को तो हम-तुम नहीं जान सकते हैं। बाकी इस समय हमारा भविष्य के लिए पुरुषार्थ चल रहा है। देवता तो बनेंगे परन्तु किस पद को पायेंगे, उसके लिए पुरुषार्थ करना है। तुम जानते हो इन लक्ष्मी-नारायण ने 84 जन्म लिए हैं। अब यह जरूर राजा-रानी बनेंगे। फीचर्स भी जानते हैं। प्रैक्टिकल में साक्षात्कार कराते हैं। भक्ति मार्ग में भी साक्षात्कार होते हैं। वह तो जिसका ध्यान करते हैं उनका साक्षात्कार होता है। चित्र कृष्ण का सांवरा देखा, उसका ध्यान करेंगे तो ऐसा साक्षात्कार हो जायेगा। बाकी कृष्ण ऐसा सांवरा है नहीं। मनुष्यों को इन बातों का ज्ञान तो कुछ भी रहता नहीं है। अभी तुम प्रैक्टिकल में हो। सूक्ष्म वतन में भी देखते हो, बैकुण्ठ में भी देखते हो। आत्मा और परमात्मा का ज्ञान है। आत्मा का ही साक्षात्कार होता है। यहाँ तुम जो साक्षात्कार करते हो उसकी तुम्हारे पास नॉलेज है। बाहर वालों को भल आत्मा का साक्षात्कार होता है परन्तु नॉलेज नहीं है। वह तो आत्मा सो परमात्मा कह देते हैं। आत्मा स्टॉर तो बरोबर है ही। यह तो बहुत दिखाई पड़ते हैं। जितने मनुष्य हैं उतनी आत्मायें हैं। मनुष्यों के शरीर इन आंखों से देखने में आते हैं। आत्मा को दिव्य दृष्टि द्वारा देखा जा सकता है। मनुष्यों के रंग-रूप भिन्न-भिन्न हैं, आत्मायें भिन्न-भिन्न नहीं, सब एक जैसी ही हैं। सिर्फ पार्ट हर आत्मा का भिन्न-भिन्न है। जैसे मनुष्य छोटे-बड़े होते हैं वैसे आत्मा छोटी-बड़ी नहीं होती है। आत्मा की साईज़ एक ही है। अगर आत्मा ज्योति में लीन हो जाए तो पार्ट रिपीट कैसे करेगी? गाया भी जाता है बनी बनाई बन रही….. यह अनादि वर्ल्ड ड्रामा चक्र लगाता रहता है। यह तुम बच्चे जानते हो। मच्छरों सदृश्य आत्मायें वापस जाती हैं। मच्छरों को तो इन आंखों से देखा जाता है। आत्मा को दिव्य दृष्टि बिना देख नहीं सकते। सतयुग में तो आत्मा के साक्षात्कार की दरकार नहीं रहती। समझते हैं कि हम आत्मा को एक पुराना शरीर छोड़ दूसरा नया लेना है। परमात्मा को तो जानते ही नहीं। अगर परमात्मा को जानते तो सृष्टि चक्र को भी जानना चाहिए।

तो गीत में कहते हैं – हमको भी साथ ले लो। पिछाड़ी में बहुत पछताते हैं। सबको निमंत्रण मिलता है। कितनी युक्तियां बन रही हैं निमंत्रण देने की।

पीस-पीस तो सब कहते हैं लेकिन पीस का अर्थ कोई भी समझते नहीं हैं। पीस कैसे होती है, वह तुम जानते हो। जैसे घानी में सरसों पीस जाते हैं वैसे सबके शरीर विनाश में ख़त्म हो जाते हैं। आत्मायें नहीं पीसेंगी। वह तो चली जायेंगी। ऐसे लिखा हुआ भी है कि आत्मायें मच्छरों सदृश्य भागती हैं। ऐसे तो नहीं सब परमात्मायें भागेंगे। मनुष्य कुछ भी समझते नहीं। आत्मा और परमात्मा में क्या भेद है, यह भी नहीं जानते। कहते हैं हम सब भाई-भाई हैं तो भाई-भाई होकर रहना चाहिए। उनको यह पता नहीं है कि सतयुग में भाई-भाई अथवा भाई-बहन सब आपस में क्षीरखण्ड होकर चलते हैं। वहाँ लूनपानी की बात ही नहीं है। यहाँ देखो अभी-अभी क्षीरखण्ड हैं, अभी-अभी लूनपानी हो जाते हैं। एक तरफ कहते हैं चीनी-हिन्दू भाई-भाई फिर उनका बुत बनाकर आग लगाते रहते हैं। जिस्मानी भाई-भाई की यह हालत देखो। रूहानी सम्बन्ध को तो जानते नहीं। तुमको बाप समझाते हैं अपने को आत्मा समझना है। देह-अभिमान में फंसना नहीं है। कोई-कोई देह-अभिमान में फँस पड़ते हैं। बाप कहते हैं देह सहित देह के जो भी सम्बन्ध हैं, सबको छोड़ना है। यह मकान आदि सब भूलो। वास्तव में तुम परमधाम निवासी हो। अभी-अभी फिर वहाँ चलना है, जहाँ से पार्ट बजाने आये हैं, फिर हम तुमको सुख में भेज देंगे। तो बाप कहते हैं लायक बनना है। गॉड किंगडम स्थापन कर रहे हैं। क्राइस्ट की कोई किंगडम नहीं थी। वह तो बाद में जब लाखों क्रिश्चियन बने होंगे तब अपनी किंगडम बनाई होगी। यहाँ तो फट से सतयुगी राजाई बन जाती है। कितनी सहज बात है। बरोबर भगवान् ने आकर स्थापना की है। कृष्ण का नाम डालने से सारा घोटाला कर दिया है। गीता में है प्राचीन राजयोग और ज्ञान। वह तो प्राय:लोप हो जाता है। अंग्रेजी अक्षर अच्छे हैं। तुम कहेंगे बाबा अंग्रेजी नहीं जानते। बाबा कहते हैं मैं कहाँ तक सब भाषायें बैठ बोलूंगा। मुख्य है ही हिन्दी। तो मैं हिन्दी में ही मुरली चलाता हूँ। जिसका शरीर धारण किया है वह भी हिन्दी ही जानता है। तो जो इनकी भाषा है वही मैं भी बोलता हूँ। और कोई भाषा में थोड़ेही पढ़ाऊंगा। मैं फ्रैन्च बोलूँ तो यह कैसे समझेगा? मुख्य तो इनकी (ब्रह्मा की) बात है। इनको तो पहले समझना है ना। दूसरे कोई का शरीर थोड़ेही लेंगे।

गीत में भी कहते हैं मुझे ले चलो क्योंकि बाप और बाप के घर का तो किसको भी पता नहीं है। गपोड़ा मारते रहते हैं। अनेक मनुष्यों की अनेक मतें हैं इसलिए सूत मूंझा हुआ है। बाप देखो कैसे बैठे हुए हैं। यह चरण किसके हैं? (शिवबाबा के) वह तो हमारे हैं ना। मैंने लोन दिया है। शिवबाबा तो टैप्रेरी यूज़ करते हैं। वैसे यह चरण तो मेरे हैं ना। शिव के मन्दिर में चरण नहीं रखते हैं। चरण कृष्ण के रखते हैं। शिव तो है ऊंच ते ऊंच, तो उनके चरण कहाँ से आये। हाँ, शिवबाबा ने उधार लिया है। चरण तो ब्रह्मा के ही हैं। मन्दिरों में बैल दिखाया है। बैल पर सवारी कैसे होगी? बैल पर शिवबाबा कैसे चढ़ेंगे? सालिग्राम आत्मा सवारी करती है मनुष्य के तन पर। बाप कहते हैं मैं जो तुमको ज्ञान सुनाता हूँ वह प्राय:लोप हो गया है। आटे में नमक मिसल रह गया है। उसको कोई भी समझ नहीं सकते। मैं ही आकर उसका सार समझाता हूँ। मैंने ही श्रीमत देकर सृष्टि चक्र का राज़ समझाया था, उन्होंने फिर देवताओं को स्वदर्शन चक्र दिखा दिया है। उनके पास तो ज्ञान है नहीं। यह है सारी ज्ञान की बात। आत्मा को सृष्टि चक्र की नॉलेज मिलती है जिससे माया का सिर काटा जाता है। उन्होंने फिर स्वदर्शन चक्र असुरों के पिछाड़ी फेंकते हुए दिखाया है। इस स्वदर्शन चक्र से तुम माया पर जीत पाते हो। कहाँ की बात कहाँ ले गये हैं। तुम्हारे में भी कोई बिरले यह बातें धारण कर और समझा सकते हैं। नॉलेज है ऊंची। उसमें समय लगता है। पिछाड़ी में तुम्हारे में ज्ञान और योग की शक्ति रहती है। यह ड्रामा में नूंध है। उन्हों की बुद्धि भी नर्म होती जाती है। तुम वायुमण्डल को शुद्ध करते हो। कितना यह गुप्त ज्ञान है। लिखा हुआ है अजामिल जैसे पापियों का उद्धार किया परन्तु उसका अर्थ भी समझते नहीं। वह समझते हैं कि ज्योति ज्योत में समा गया। सागर में लीन हो गया। पांच पाण्डव हिमालय में गल गये। प्रलय हो गई। एक तरफ दिखाते हैं वह राजयोग सीखे फिर प्रलय दिखा दी है और फिर दिखाते हैं कि कृष्ण अंगूठा चूसता हुआ पीपल के पत्ते पर आया। उसका भी अर्थ नहीं समझते। वह तो गर्भ महल में था। अंगूठा तो बच्चे चूसते हैं। कहाँ की बात कहाँ लगा दी है। मनुष्य तो जो सुनते वह सत-सत कहते रहते हैं।

सतयुग को कोई जानते नहीं। झूठ उनको कहा जाता है जो चीज़ होती ही नहीं। जैसे कहते हैं परमात्मा का नाम-रूप है ही नहीं। परन्तु उनकी तो पूजा करते रहते हैं। तो परमात्मा है अति सूक्ष्म। उन जैसी सूक्ष्म चीज़ कोई है नहीं। एकदम बिन्दी है। सूक्ष्म होने कारण ही कोई जानते नहीं। भल आकाश को भी सूक्ष्म कहा जाता है परन्तु वह तो पोलार है। 5 तत्व हैं। 5 तत्वों के शरीर में आकर प्रवेश करते हैं। वह कितनी सूक्ष्म चीज़ है। एकदम बिन्दी है। स्टॉर कितना छोटा है। यहाँ परमात्मा स्टॉर बाजू में आकर बैठे तब तो बोल सके। कितनी सूक्ष्म बातें हैं। मोटी बुद्धि वाले तो जरा भी समझ न सकें। बाप कितनी अच्छी-अच्छी बातें समझाते हैं। ड्रामा अनुसार जो कल्प पहले पार्ट बजाया है, वही बजाते हैं। बच्चे समझते हैं बाबा रोज़ आकर नई-नई बातें सुनाते हैं, तो नया ज्ञान होगा ना। तो रोज़ पढ़ना पड़े। रोज़ कोई नहीं आते हैं तो फ्रैन्ड के पास जाकर पूछते हैं कि आज क्लास में क्या हुआ? यहाँ तो कोई पढ़ना ही छोड़ देते हैं। बस, कह देते हैं अविनाशी ज्ञान रत्नों का वर्सा नहीं चाहिए। अरे, पढ़ना छोड़ा तो तुम्हारा क्या हाल होगा? बाप से वर्सा क्या लेंगे? बस, तकदीर में नहीं है। यहाँ स्थूल मिलकियत की तो कोई बात नहीं है, ज्ञान का खजाना बाप से मिलता है। वह मिलकियत आदि तो सब कुछ विनाश होना है, उसका नशा कोई रख न सके। बाप से ही वर्सा मिलना है। तुम्हारे पास भल करोड़ों की मिलकियत है, वह भी मिट्टी में मिल जानी है। इस समय की ही सारी बात है। यह भी लिखा हुआ है किसकी दबी रहेगी धूल में, किसकी जलाये आग…….. इस समय की बातें पिछाड़ी में चली आती हैं। विनाश तो अभी होना है। विनाश के बाद फिर है स्थापना। अभी वह स्थापना कर रहे हैं। वह है अपनी राजधानी। तुम दूसरों के लिए नहीं करते हो, जो कुछ करेंगे वह अपने लिए। जो श्रीमत पर चलेगा वह मालिक बनेगा। तुम तो नये विश्व में नये भारत के मालिक बनते हो। नई विश्व अर्थात् सतयुग में तुम मालिक थे। अभी यह पुराना युग है फिर तुमको पुरुषार्थ कराया जाता है नई दुनिया के लिए। कितनी अच्छी-अच्छी बातें समझने की हैं। आत्मा और परमात्मा का ज्ञान, सेल्फ रियलाइजेशन। सेल्फ का फादर कौन है? बाप कहते हैं मैं आता हूँ तुम आत्माओं को सिखलाने। अब फादर को रियलाइज किया है फादर द्वारा। बाप समझाते हैं तुम हमारे सिकीलधे बच्चे हो। कल्प के बाद फिर से आकर मिले हो वर्सा लेने के लिए। तो पुरुषार्थ करना चाहिए ना। नहीं तो बहुत पछताना होगा, बहुत सजा खानी पड़ेगी। जो बच्चे बनकर और फिर कुकर्म करते हैं, उनकी तो बात मत पूछो। ड्रामा में देखो बाबा का कितना पार्ट है। सब कुछ दे दिया। बाबा फिर कहते हैं भविष्य 21 जन्मों के लिए रिटर्न दूंगा। आगे तुम इनडायरेक्ट देते थे तो भविष्य में एक जन्म के लिए देता था। अभी डायरेक्ट देते हो तो भविष्य 21 जन्मों के लिए इन्श्योर कर देता हूँ। डायरेक्ट, इनडायरेक्ट में कितना फ़र्क है। वह द्वापर-कलियुग के लिए इन्श्योर करते हैं ईश्वर को। तुम सतयुग-त्रेता के लिए इन्श्योर करते हो। डायरेक्ट होने के कारण 21 जन्मों के लिए मिलता है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अविनाशी बाप से अविनाशी ज्ञान रत्नों का खजाना ले तकदीरवान बनना है। नया ज्ञान, नई पढ़ाई रोज़ पढ़नी है। वायुमण्डल को शुद्ध बनाने की सेवा करनी है।

2) भविष्य 21 जन्मों के लिए अपना सब कुछ इन्श्योर कर देना है। बाप का बनने के बाद कोई भी कुकर्म नहीं करना है।

वरदान:- ज्ञान अमृत की वर्षा द्वारा मुर्दे से महान बनने वाले मरजीवा भव
पहले चिंताओं की चिता पर जल रहे थे, अभी बाप ने ज्ञान अमृत की वर्षा कर जलती हुई चिता से मरजीवा बना दिया। जिंदा कर दिया। बाप ने अमृत पिलाया और अमर बना दिया। पहले मरे हुए मुर्दे के समान थे और अब मुर्दे से महान बन गये। पहले कहते थे भगवान मुर्दे को भी जिंदा करता है लेकिन कैसे करता है, वह नहीं जानते थे, अभी खुशी है कि बाप ने हमें अब जलती हुई चिता से उठाकर अमर बना दिया।
स्लोगन:- धर्म में स्थित हो कर्म करने वाले ही धर्मात्मा हैं।

TODAY MURLI 19 NOVEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 19 NOVEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 18 November 2017 :- Click Here

19/11/17
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
27/03/83

Avyakt BapDada’s sweet elevated versions for the Kumaris’ bhatthi.

Where is BapDada celebrating a meeting with all of you today? In which place are all of you sitting? You are celebrating a meeting at the place where the Ocean meets the rivers. You like the shores of the ocean, do you not? How elevated would a place be where there isn’t just the ocean; but also so many rivers meet? Even the Ocean loves meeting the rivers so much. Would such a meeting take place in any other age? The meeting of this age will be remembered and celebrated in different ways throughout the whole cycle. You have come here to celebrate such a meeting, have you not? This is why you have come running from everywhere, is it not? You merge in the Ocean and become master oceans of knowledge, that is, you become stabilised in the unlimited form, equal to the Father. Do you have this unlimited experience? To have an unlimited attitude means to have a benevolent attitude towards all souls, to be a master world benefactor; not just to be benevolent towards yourself and the souls in your limited connections, but to have an attitude of benevolence towards everyone. “I have become a Brahma Kumari, I have become a pure soul!” To continue to move forward being satisfied with your own progress and your own attainment is not being stable in an unlimited attitude, equal to the Father. A limited attitude means to have an attitude of satisfaction just with yourself. Do you want to remain just here or do you want to move forward? Some children, instead of taking a golden chance and golden medal and spending time in unlimited service and for unlimited attainment, become happy with a silver medal and think, “I am moving along fine, I am not making any mistakes, I am both fulfilling my worldly responsibilities. There isn’t any conflict of sanskars within the gathering.” That is not having an unlimited attitude equal to the Father’s, is it? Would a couple seem matched if the Father is the World Benefactor and the child is a self-benefactor? You don’t even like to hear this. Therefore, would you like to become that and move along in that way? If a child of the Master of all treasures doesn’t become a great donor of treasures, what would people say? If any of you were asked whether you have a right to the inheritance of all of the Father’s treasures, you would say “Yes.” What have you received all the treasures for? Have you received them so that you can eat, drink and enjoy yourself? You have received the direction to distribute them and increase them, have you not? So how will you share them? Have you opened a Gita Pathshala or are you happy just to share them whenever you have a chance? You have received an unlimited attainment from the unlimited Father. Therefore, maintain unlimited zeal and enthusiasm. A kumari life at the confluence age is the most elevated life filled with blessings. So, according to the drama, all of you special souls have naturally received such a life of blessings. Are you using your life to give everyone blessings and the great donation? You can draw a line as long as you want with the pen of elevated actions from the blessings you have naturally received. This time has this blessing. The time has this blessing, the kumari life has this blessing and the Father is the Bestower of Blessings. The task is also one that gives you blessings. So, have you taken full advantage of this? Have you taken the chance of ensuring a continuous line of 21 births and of becoming constantly complete for 21 generations? You can do as much as you want in a kumari life. You have received the fortune of being a free soul. Ask yourself: Am I free or am I dependent? The bondage of those who are dependent is a trap of their minds’ own wasteful or weak thoughts. You don’t get yourself caught in the trap that you yourself have created, do you? Is there the trap of questions? If you took a picture of the trap that you have created, it would be like a questionmark. You are experienced in the questions that arise, are you not? “What will happen? How will it happen? It will not happen like this, will it?” These are traps. You were also told earlier that the one powerful constant thought of Brahmins of the confluence age is: “Whatever happens is benevolent. Whatever happens will be elevated and it will be the best of all.” Since the bad days and non-benevolent days have now finished, this is the thought to finish the traps. Every day of the confluence age is an important day, it is not a bad day. Every day you have a festival. Every day is to be celebrated. You can finish any trap of wasteful thoughts with this powerful thought.

Kumaris are the pride of BapDada and the Brahmin clan. Kumaris receive the first chance. The Pandavas are amused that young kumaris become teachers; they become dadis and didis. You receive so many chances. However, if you still don’t take your chance, what can be said? Do you know what you say? “I will remain co-operative but I won’t surrender myself.” How would those who don’t surrender themselves become equal? What did the Father do? He surrendered everything, did he not? Or, did he just remain co-operative? What did Father Brahma do? Did he surrender himself or did he just remain co-operative? What did Jagadamba do? She too was a kumari. So, are you going to follow the mother and father or follow your sisters? “When I see that one’s life, that’s just what I would like.” So that is following a sister, is it not? What will you do now? You fear is due to your own weaknesses, nothing else. So, what will you now take? Will you take a golden medal or is a silver medal fine? Don’t look at your weaknesses. If you look at them, you become afraid. Don’t become weak and don’t look at the weaknesses of others! Do you understand what you have to do?

BapDada is very pleased to see kumaris. When people have a daughter, they are not happy, whereas the more kumaris that come, the greater BapDada’s happiness, because BapDada understands that every kumari is a world benefactor, a great donor and a bestower of blessings. So, do you understand how great the importance of a kumari life is? Today is a special day for kumaris. In Bharat, they specially invite the kumaris on the eighth day (according to the Hindu calendar). Therefore, BapDada too is celebrating the eighth day. Each kumari is an image of the eight powers. Achcha.

To those who have a right to an elevated life filled with blessings, to those who have a right to a golden chance, to those who have a right to draw the line of elevated fortune for 21 births, to those who have a right to the blessing of being one who is free, to the Brahma Kumaris who belong to the clan of Shiva, especially to the elevated kumaris and also to the multimillion-times fortunate souls who are celebrating a meeting at the same time, BapDada’s love, remembrance and namaste.

Victory of karma yoga over the suffering of karma: You are a victorious jewel who has achieved victory over the suffering or karma, are you not? Those people have to suffer the consequences of their karma, whereas you are a karma yogi. You are not one who has to suffer, but one who has burnt everything for all time. You burn everything in such a way that for 21 births there is no name or trace of any suffering of karma. You would only burn something when it comes to you. That comes in order for you to burn it, not to make you suffer. It comes to take leave, because even the suffering of karma is aware that it can only come at this time and not at any other time. This is why it seeks its chance every now and then. When it sees that nothing is going to be gained here, it goes away.

Whilst looking at Dadi and Didi: You are happy to see so many hands, are you not? The dreams that you had have become practical, haven’t they? You had dreams of so many hands and so many centres, because Dadi and Didi have the maximum desire for such hands. Therefore, there would of course be happiness on seeing so many ready-made hands! There is a difference between the kumaris of Bharat and those from abroad. Why do you need to earn an income? (Someone wanted to study for a degree.) Until you have put it into practice, the degree has no value. The value of the degree is when you work (use it practically). Even then, when you don’t practise what you have studied but just remain caught up in a household, even after your studies, then it is said, “What benefit is there in having studied?” Even those who are illiterate are able to look after children, and those too (educated ones) are looking after them. So what is the difference? In the same way, it is when you study this and go on to the stage of service, that this degree is then of value. You receive a chance here and you automatically receive a degree. Is this degree a small thing? Look how big the degree is that Jagadamba Saraswati received! You cannot even begin to describe the degree that you receive here. You have received such a huge degree – master ocean of knowledge, master almighty authority…; you have so many degrees. MA. and BA. are all included in these. Doctors and engineers are all included in these.

BapDada meeting different groups of kumaris:

1) You are blessed kumaris, are you not? Are you the ones who walk slowly or the ones who fly? To be one who is flying means to be one who has let go of the limited earth. It is when you leave the ground that you are able to fly, is it not? You cannot fly down below. Those who are down below are caught by the hunters. When you come down, you are trapped in a cage. Those who are flying do not enter the cage. So, have you left the cage? What will you do now? Will you get a job? Will you wear a crown or carry a burden (basket)? Where there is a crown, there cannot be a burden. It is only when you take off the crown that you can put the burden there. If you put the burden there, the crown would fall off. So, do you want to wear a crown or carry a burden? You now have the crown of the responsibility of world service, whereas in the future, you will have a jewel-studded crown. Wear the crown of world service now and the world will consider you to be a great soul, a blessed soul. How can those who are wearing such a big crown carry a burden? You had been carrying a burden for 63 births. Now that you are receiving a crown, you should wear it, should you not? What do you think? You may not have the desire in your heart, but you have to do it. Are you circumstances like that? By gradually making your relatives content, you can free yourself from bondage. Make a plan to become free from bondage. Keep the aim of doing unlimited service and all the limited bondages will automatically break. If you have an aim on both sides, you cannot then be successful in both the worldly and the spiritual. When you have a clear aim, you will also receive help with your relatives. You consider your relatives just for the sake of it, but when you have spiritual service in your intellect, the compulsion will change in front of love.

2) Have all of you kumaris made a decision about your destiny, or do you still have to do that? The longer you take to decide about your life, the more the time to attain will pass by, and this is why you mustn’t waste your time in making a decision. You think and you act: this is to be one who makes a number one deal. Those who decide in a second receive a golden medal. Those who decide after thinking a lot receive a silver medal and those who cannot decide even after thinking about it receive a copper one. All of you are the ones with a golden medal, are you not? Since you are to go the golden age, you have to have the golden medal, do you not? None of you raises your hand to become Rama or Sita. Lakshmi and Narayan are golden aged. So, have all of you drawn such a line of fortune for yourselves, or do you sometimes not have the courage? You, who constantly fly with zeal and enthusiasm, do not let of your courage, no matter what happens. Seeing the weaknesses of others, do not become disheartened yourself. I don’t know; perhaps the same will happen to me! If one person falls into a ditch, what would another one do? Would he fall in it himself or would he try to rescue the other one? So, never be disheartened. Constantly continue to fly with the wings of zeal and enthusiasm. Do not be attracted to anything. When a hunter tries to trap you, he throws very good grain. Maya also does the same sometimes, and so always stay in the flying stage and you will remain safe. To think of the past, to think of weaknesses, to look back; to look back means Ravan will come.

3) You are the Shakti Army, are you not? All of you have the flag of victory in your hands. Is the flag of victory over all the world or just over your State? Those who have a right to the world would be world servers – not limited servers, but unlimited servers. They would do service wherever they go. So, are you ready for such unlimited service? Since you are the Shaktis of the world, offer yourselves. Take leave for two months or six months and try this out. When you take one step, you will move forward ten steps. Go out for one or two months and experience this yourself. When your heart is set on something great, you automatically let go of the thing that is of lower quality. So, try this out. The confluence age is the time to move forward. You have become a Brahma Kumari, you have become an embodiment of knowledge and a lot of time has been put into this. Now, move forward. Take a few steps ahead, do not just stay in one place. Do not look at those who are weak. Look at the Shaktis; why do you look at the sheep? When you look at sheep, you have to look down. You are then afraid and think: I don’t know what is going to happen. You get afraid when you see those who are weak. Therefore, do not look at them! Look at the Shaktis and your fear will be removed.

Blessing: May you be one who is in the combined formand experience that Company by considering the Lord to be ever present with you.
Whenever you children remember the Father with love, you experience Him to be close and you also experience His company. As soon as you say “Baba” from your heart, the Comforter of Hearts is present in front of you. This is why it is said: The Lord is present. He is ever present. With the use of this method of love, the Lord becomes present at every place with everyone. Only those who experienced this would know about it. It is remembered: Karanhar and Karavanhar are combined in Karankaravanhar. Those who are in the combined form always experience His company in this way.
Slogan: To keep your mind in constant spiritual pleasure is the art of living.

 

*** Om Shanti ***
Read Murli 17 November 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 19 NOVEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 19 November 2017

November 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 18 November 2017 :- Click Here
19/11/17
मधुबन
“अव्यक्त-बापदाद”‘
ओम् शान्ति
27/03/83

कुमारियों को भट्ठी में प्राण अव्यक्त बापदादा के मधुर महावाक्य

आज बापदादा सब बच्चों से कहाँ मिलन मना रहे हैं? किस स्थान पर बैठे हो? सागर और नदियों के मिलन स्थान पर मिलन मना रहे हैं। सागर का कण्ठा पसन्द आता है ना। सिर्फ सागर नहीं लेकिन अनेक नदियों का सागर के साथ मिलन स्थान कितना श्रेष्ठ होगा। सागर को भी नदियों का मिलन कितना प्यारा लगता है। ऐसा मिलन मेला फिर किसी युग में होगा? इस युग का मिलना सारा कल्प भिन्न-भिन्न रूप और रीति से गाया मनाया जायेगा। ऐसा मेला मनाने के लिए आये हो ना, यहाँ वहाँ से इसलिए भागे हो ना। सागर में समाए, समान मास्टर ज्ञान सागर बन जाते हो अर्थात् बाप समान बेहद के स्वरूप में स्थित हो जाते हो। ऐसा बेहद का अनुभव करते हो? बेहद की वृत्ति अर्थात् सर्व आत्माओं के प्रति कल्याण की वृत्ति – मास्टर विश्व कल्याणकारी। सिर्फ अपने वा अपने हद के निमित्त बनी हुई आत्माओं के कल्याण अर्थ नहीं, लेकिन सर्व के कल्याण की वृत्ति हो। मैं तो ब्रह्माकुमारी बन गई, पवित्र आत्मा बन गई – अपनी उन्नति में, अपनी प्राप्ति में, अपने प्रति सन्तुष्टता में राज़ी होकर चल रहे हैं, यह बाप सामन बेहद की वृत्ति रखने की स्थिति नहीं है। हद की वृत्ति अर्थात् सिर्फ स्वंय प्रति सन्तुष्टता की वृत्ति। क्या यहाँ तक ही सिर्फ रहना है वा आगे बढ़ना है? कई बच्चे बेहद की सेवा का समय, बेहद की प्राप्ति का समय, बाप समान बनने का गोल्डन चान्स वा गोल्डन मैडल लेने के बजाए, मैं ठीक चल रही हूँ, कोई गलती नहीं करती, लौकिक, अलौकिक जीवन दोनों अच्छा निभा रही हूँ, कोई खिट-खिट नहीं, कोई संगठन के संस्कारों का टक्कर नहीं, इसी सिलवर मैडल में ही खुश हो जाते हैं। बाप समान बेहद की वृत्ति तो नहीं रही ना। बाप विश्व कल्याणकारी और बच्चे – स्व कल्याणकारी, ऐसी जोड़ी अच्छी लगेगी? सुनने में अच्छी नहीं लग रही है। और जब बनकर चलते हो तब अच्छी लगती है? सर्व खजानों के मालिक के बालक खजानों के महादानी नहीं बने तो उसको क्या कहा जायेगा? किसी से भी पूछो तो बाप के सर्व खजानों के वर्से के अधिकारी हो? तो सब हाँ कहेंगे ना! खजाना किसलिए मिला है? सिर्फ स्वयं खाओ पियो और अपनी मौज में रहो, इसलिए मिला है? बाँटो और बढ़ाओ, यही डायरेक्शन मिले हैं ना। तो कैसे बाँटेंगे? गीता पाठशाला खोल ली वा जब चांस मिला तब बाँट लिया, इसमें ही सन्तुष्ट हो? बेहद के बाप से बेहद की प्राप्ति और बेहद की सेवा के उमंग-उत्साह में रहना है। कुमारी जीवन संगमयुग में सर्व श्रेष्ठ वरदानी जीवन है। तो ऐसी वरदानी जीवन ड्रामा अनुसार आप विशेष आत्माओं को स्वत: प्राप्त है। ऐसी वरदानी जीवन सर्व को वरदान, महादान देने में लगा रहे हो? स्वत: प्राप्त हुए वरदान की लकीर श्रेष्ठ कर्म की कलम द्वारा जितनी बड़ी खींचने चाहो उतनी खींच सकते हो। यह भी इस समय को वरदान है। समय भी वरदानी, कुमारी जीवन भी वरदानी, बाप भी वरदाता। कार्य भी वरदान देने का है। तो इसका पूरा पूरा लाभ लिया है? 21 जन्मों तक लम्बी लकीर खींचने का चांस, 21 पीढ़ी सदा सम्पन्न बनने का चान्स जो मिला है वह ले लिया? कुमारी जीवन में जितना चाहो कर सकते हो। स्वतंत्र आत्मा का भाग्य प्राप्त है। अपने से पूछो – स्वतत्र हो या परतंत्र हो? परतंत्रता के बन्धन अपने ही मन के व्यर्थ कमजोर संकल्पों की जाल है। उसी रची हुई जाल में स्वयं को परतंत्र तो नहीं बना रहो हो? क्वेश्चन की जाल है? जो जाल रचते हो उसका चित्र निकालो तो क्वेश्चन का ही रूप होगा। क्वेश्चन क्या उठते हैं, अनुभवी हो ना। क्या होगा, कैसे होगा, ऐसे तो नहीं होगा, यह है जाल। पहले भी सुनाया था – संगमयुगी ब्राहमणों का एक ही सदा समर्थ संकल्प है कि – ‘जो होगा वह कल्याणकारी होगा। जो होगा श्रेष्ठ होगा, अच्छे ते अच्छा होगा।’ यह संकल्प है जाल को समाप्त करने का। जबकि बुरे दिन, अकल्याण के दिन समाप्त हो गये। संगमयुग का हर दिन बड़ा दिन है, बुरा दिन नहीं। हर दिन आपका उत्सव है ना। हर दिन मनाने का है। इस समर्थ संकल्प से व्यर्थ संकल्पों की जाल को समाप्त करो।

कुमारियाँ तो बापदादा की, ब्राह्मण कुल की शान हैं। फर्स्ट चान्स कुमारियाँ को मिलता है। पाण्डव हँसते हैं कि छोटी-छोटी कुमारियाँ टीचर बन जातीं, दादी बन जाती, दीदी बन जाती। तो इतना चान्स मिलता है। फिर भी चान्स न लें तो क्या कहेंगे! क्या बोलती हो, पता है? सहयोगी रहेंगे लेकिन समर्पण नहीं होंगे। जो समर्पण नहीं होंगे वह समान कैसे बनेंगे! बाप ने क्या किया? सब कुछ समर्पित किया ना वा सिर्फ सहयोगी बना? ब्रह्मा बाप ने क्या किया? समर्पण किया वा सिर्फ सहयोगी रहा? जगत अम्बा ने कया किया? वह भी कन्या ही रही ना। तो फालो फादर मदर करना है वा एक दो में सिस्टर्स फालो करते हो। ”इसका जीवन देखकर मुझे भी यही अच्छा लगता है।” तो फालो सिस्टर्स हो गया ना! अब क्या करेंगी? डर सिर्फ अपनी कमजोरी से होता है और किसी से नहीं होता। अब क्या लेंगी? गोल्डन मैडल लेंगी वा सिलवर ही ठीक है? कमजोरियों को नहीं देखो। वह देखेंगी तो डरेंगी। न स्वयं कमजोर बनो, न दूसरों की कमजोरियों को देखो। समझा, क्या करना है!

बापदादा को तो कुमारियाँ देख करके खुशी होती है। लोगों के पास कुमारी आती है तो दु:ख होता है। और बापदादा के पास जितनी कुमारियाँ आवें उतना ज्यादा से ज्यादा खुशी मनाते हैं क्योंकि बापदादा जानते हैं कि हर कुमारी विश्व कल्याणकारी, महादानी, वरदानी है। तो समझा कुमारी जीवन का महत्व कितना है। आज विशेष कुमारियों का दिन है ना। भारत में अष्टमी पर कुमारियों को खास बुलाते हैं। तो बापदादा भी अष्टमी मना रहे हैं। हर कन्या अष्ट शक्ति स्वरूप है। अच्छा –

ऐसे सर्व श्रेष्ठ वरदानी जीवन अधिकारी, गोल्डन चांस अधिकारी, 21 पीढ़ी की श्रेष्ठ तकदीर की लकीर खींचने के अधिकारी, स्वतंत्र आत्मा के वरदान अधिकारी, ऐसे शिव वंशी ब्रह्माकुमारियों, श्रेष्ठ कुमारियों को विशेष रूप में और साथ-साथ सर्व मिलन मनाने वाले पद्मापदम भाग्यवान आत्माओं को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

कर्मभोग पर कर्मयोग की विजय – कर्मभोग पर विजय पाने वाले विजयी रत्न हो ना! वे कर्मभोग भोगने वाले होते और आप कर्मयोगी हो। भोगने वाले नहीं हो लेकिन सदा के लिए भस्म करने वाले हो। ऐसा भस्म करते हो जो 21 जन्म कर्मभोग का नाम निशान न रहे। आयेगा तब तो भस्म करेंगे? आयेगा जरूर लेकिन आता है, भस्म होने के लिए न कि भोगने के लिए। विदाई लेने के लिए आता है क्योंकि कर्मभोग को भी पता है कि हम अभी ही आ सकते हैं फिर नहीं आ सकते इसलिए थोड़ा-थोड़ा बीच में चाँस लेता है। जब देखता है कि यहाँ तो दाल गलने वाली नहीं है तो वापस चला जाता है।

दादी दीदी को देखते हुए – इतने हैण्डस देखकर खुशी हो रही है ना? जो स्वप्न देख रही थी वो साकार हो गया ना। इतने हैण्डस हों, इतने सेन्टर बढ़ें, यह स्वप्न देख रही थी ना क्योंकि हैन्डस की दादी दीदी को सबसे ज्यादा आश रहती है। तो इतने सब बने बनाये हैन्डस देखकर खुशी होगी ना। भारत की कुमारियों में और विदेश की कुमारियों में भी अन्तर है, इन्हें कमाई की क्या आवश्यकता है! (डिग्री लेनी है) जब तक सेवा में प्रैक्टिस नहीं की है तब तक डिग्री की भी वैल्यु नहीं है। डिग्री की वैल्यु सेवा से है। पढ़ाई पढ़कर कार्य में नहीं लगाया, पढ़ाई के बाद भी गृहस्थी में रहे तो लौकिक में भी कहते हैं, पढ़ाई से क्या लाभ। अनपढ़ भी बच्चे सम्भालते और यह भी सम्भालते तो फ़र्क क्या हुआ। ऐसे ही यह भी पढ़कर अगर स्टेज पर आ जाएं जो डिग्री की वैल्यु भी है। अगर यहाँ चांस मिलता है तो डिग्री आप ही मिल जायेगी। यह डिग्री कम है क्या! जगदम्बा सरस्वती को कितनी बड़ी डिग्री मिली। यहाँ की डिग्री तो वर्णन भी नहीं कर सकते हो। कितनी बड़ी डिग्री मिली है – मास्टर ज्ञान सागर, मास्टर सर्वशक्तिमान कितनी डिग्री हैं! इसमें एम.ए., बी.ए. सब आ जाता है। इंजीनियर, डाक्टर सब आ जायेगा। अच्छा।

कुमारियों के अलग-अलग ग्रुप से बापदादा की मुलाकात

1. वरदानी कुमारियाँ हो ना! धीरे-धीरे चलने वाली हो या उड़ने वाली हो? उड़ने वाली अर्थात् हद की धरनी को छोड़ने वाली। जब धरनी को छोड़ें तब उड़ेंगी ना! नीचे तो नहीं उड़ेंगी। नीचे वाले को शिकारी पकड़ लेते हैं। नीचे आया पिंजरे में फंसा। उड़ने वाला पिंजरे में नहीं आता। तो पिंजरा छोड़ दिया! अभी क्या करेंगी? नौकरी करेंगी? ताज पहनेंगी या टोकरी उठायेंगी? जहाँ ताज होगा वहाँ टोकरी चलेगी नहीं। ताज उतारेंगी तब टोकरी रख सकेंगी। टोकरी रखेंगी तो ताज गिर जायेगा। तो ताजधारी बनना है या टोकरीधारी। अभी विश्व की सेवा की ज़िम्मेवारी का ताज और भविष्य रत्न जड़ित ताज। अभी विश्व की सेवा का ताज पहनो तो विश्व आपको धन्य आत्मा, महान आत्मा माने। इतना बड़ा ताज पहनने वाले टोकरी क्या उठायेंगे! 63 जन्म तो टोकरी उठाते रहे, अब ताज मिलता है तो ताज पहनना चाहिए ना! क्या समझती हो? दिल नहीं है लेकिन करना पड़ता है! क्या ऐसे सरकमस्टांस हैं? धीरे-धीरे लौकिक को सन्तुष्ट करते अपने को निर्बन्धन कर सकती हो। निर्बन्धन होने का प्लैन बनाओ। बेहद सेवा का लक्ष्य रखो तो हद के बन्धन स्वत: टूट जायेंगे। लक्ष्य दो तरफ का होता है तो लौकिक अलौकिक दोनों में सफल नहीं हो सकते। लक्ष्य क्लियर हो तो लौकिक में भी मदद मिलती है। निमित्त मात्र लौकिक, लेकिन बुद्धि में अलौकिक सेवा हो तो मजबूरी ही मुहब्बत के आगे बदल जाती है।

2) सभी कुमारियों ने अपनी तकदीर का फैंसला कर लिया है या करना है? जितना समय अपने जीवन के फैंसले में लगाती हो उतना प्राप्ति का समय चला जाता है इसलिए फैंसला करने में समय नहीं गंवाना चाहिए। सोचा और किया – इसको कहा जाता है नम्बरवन सौदा करने वाले। सेकेण्ड में फैंसला करने वाले गोल्डन मैडल लेते हैं। सोच-सोचकर फैंसला करने वाले सिल्वर मैडल लेते और सोचकर भी फैंसला नहीं कर पाते वह कापर वाले हो गये। आप सब तो गोल्डन मैडल वाले हो ना! जब गोल्डन एज में जाना है तो गोल्डन मैडल चाहिए ना। राम सीता बनने में कोई हाथ नहीं उठाते। लक्ष्मी नारायण तो गोल्डन एजड हैं ना। तो सभी ने अपने तकदीर की लकीर ऐसी खींच ली है या कभी-कभी हिम्मत नहीं होती। सदा उमंग-उत्साह में उड़ने वाली, कुछ भी हो लेकिन अपनी हिम्मत नहीं छोड़ना। दूसरे की कमजोरी देखकर स्वयं दिलशिकस्त नहीं होना। पता नहीं हमारा तो ऐसा नहीं होगा! अगर एक कोई खड्डे में गिरता है तो दूसरा क्या करेगा? खुद गिरेगा या उसको बचाने की कोशिश करेगा? इसलिए कभी भी दिलशिकस्त नहीं होना। सदा उमंग उत्साह के पंखों से उड़ते रहना। किसी भी आकर्षण में नहीं आना। शिकारी जब फँसाते हैं तो अच्छा-अच्छा दाना डाल देते हैं। माया भी कभी ऐसे करती है इसलिए सदा उड़ती कला में रहना तो सेफ रहेंगी। पीछे की बात सोचना, कमजोरी की बात सोचना पीछे देखना है, पीछे देखना अर्थात् रावण का आना।

3) शक्ति सेना हो ना! सबके हाथ में विजय का झण्डा है। विश्व के ऊपर विजय का झण्डा है या सिर्फ स्टेट के ऊपर है? विश्व के अधिकारी बनने वाले विश्व सेवाधारी होंगे। हद के सेवाधारी नहीं। बेहद के सेवाधारी, जहाँ भी जायें वहाँ सेवा करेंगे। तो ऐसे बेहद सेवा के लिए तैयार हो? विश्व की शक्तियाँ हो तो स्वयं ही आफर करो। 2 मास 6 मास की छुट्टी लेकर ट्रायल करो। एक कदम बढ़ायेंगी तो 10 कदम बढ़ जायेंगे, एक दो मास निकल कर अनुभव करो। जब कोई बढ़िया चीज से दिल लग जाती है तो घटिया स्वत: छूट जाती है। ऐसे ट्रायल करो। संगमयुग आगे बढ़ने का समय है। ब्रह्माकुमारी बन गयी, ज्ञान स्वरूप बन गयी, यह तो बहुत समय हो गया। अब आगे बढ़ो, कुछ तो आगे कदम बढ़ाओ, वहाँ ही नहीं ठहरो। कमजोर को नहीं देखो। शक्तियों को देखो, बकरियों को क्यों देखते! बकरियों को देखने से खुद का भी कांध नीचे हो जाता। डर लगता है – पता नहीं क्या होगा? कमजोर को देखने से डरते हो इसलिए उन्हें मत देखो। शक्तियों को देखो तो डर निकल जायेगा।

वरदान:- सदा हज़ूर को हाज़िर समझ साथ का अनुभव करने वाले कम्बाइन्ड रूपधारी भव 
बच्चे जब भी स्नेह से बाप को याद करते हैं तो समीप और साथ का अनुभव करते हैं। दिल से बाबा कहा और दिलाराम हाज़िर इसीलिए कहते हैं हज़ूर हाज़िर है। हाज़िरा हज़ूर है। स्नेह की विधि से हर स्थान पर हर एक के पास हजूर हाजिर हो जाते हैं, अनुभवी ही इस अनुभव को जानते हैं। गाया हुआ है – करनकरावनहार तो करनहार और करावनहार कम्बाइन्ड हो गया। ऐसे कम्बाइन्ड रूपधारी सदा साथ का अनुभव करते हैं।
स्लोगन:- मन को सदा रूहानी मौज में रखना – यही जीवन जीने की कला है।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 17 November 2017 :- Click Here

Font Resize