19 may ki murli

TODAY MURLI 19 MAY 2021 DAILY MURLI (English)

19/05/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have come to the Father to make your fortune elevated. To the extent that you follow shrimat, you will accordingly make your fortune elevated.
Question: What habit of the path of devotion should you children no longer have?
Answer: On the path of devotion, when they experience a little sorrow or fall ill, they say: O Rama! O God! On the path of devotion, there is the habit of crying out in sorrow. You must no longer allow such words to emerge from your mouth. You should internally remember sweet Baba with a lot of love.
Song: I have come with my fortune awakened.

Om shanti. Every human being makes effort to create a fortune of happiness or peace. Sages, holy men and sannyasis say: We want peace! Remove our sorrow and grant us happiness! They believe that only God is the Remover of Sorrow and the Bestower for Happiness for human beings, but human beings don’t know God. You say: Shiv Baba! Brahma, Vishnu and Shankar cannot be called Baba; they are deities. Only God is called Baba. He is incorporeal and He is worshipped. You know that Shiv Baba is the Baba of everyone. However, they don’t understand why they call Him “Baba”. There is a worldly father too, and so which Father is this? Souls say: That One is the incorporeal Father. He is incorporeal and we souls are also incorporeal. Even though people have worldly fathers, souls don’t forget that Father. God is the Father and we are His children. Here, He is called the Supreme Father. In English it is said: God, the Father, the Supreme Soul, the Highest on High. A worldly father is a creator of bodies whereas that One is the Father from beyond this world. Only the Father sits here and explains to you children. You remember the Father because you receive the inheritance from Him. You have come to the Father to claim your inheritance. Only the Father, the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness, comes to show you the path to happiness. There will be no name or trace of sorrow there. Here, there is a lot of sorrow. Everyone calls out. There is now a lot of sorrow to come in the world. When someone dies, people become so unhappy! They say: “O God” and cry. He alone is the Benefactor Father. You sing this and so He must definitely have removed your sorrow and given you happiness. The Father comes and explains: Children, every cycle, when you become very unhappy and impure, it is then that you call out: O Baba, come! I come cycle after cycle at the confluence age. The end of the impure world and the beginning of the pure world is called the confluence age. This is the only confluence age that is remembered. The Father comes to ignite everyone’s light, to remove their sorrow and give them happiness. You know you have come to the Father from beyond the One who has entered this one. He Himself says: I enter this one and name him Brahma. All of you are Brahma Kumars and Kumaris. You have the faith that you have become the children of Brahma in order to claim your inheritance of happiness from the Father. You children had happiness when it was the kingdom of Lakshmi and Narayan. It is now the iron age, the land of sorrow. After this, there will be the golden age. The history and geography of the world have to repeat. There has to be the kingdom of Lakshmi and Narayan in the golden age. This cycle continues to turn. Baba has told you that you became residents of hell and you now have to become residents of heaven. The tree of you deities was very small at first. You now remember that you have taken 84 births. You were the masters of the whole world and you then continued to take rebirth. It is now the end of your last, your 84th birth. The world will definitely become new from old. The new world was pure and it is now the old impure world. People are so unhappy and poverty-stricken. Bharat was very wealthy. There used to be the pure, household religion. When it was the pure family path, everyone was completely viceless, 16 celestial degrees full. These things are not mentioned in the scriptures. The scriptures are for the path of devotion. They only have the customs and systems of devotion in them. The path to find God cannot be found in the scriptures. They do realise that God has to come here, so there is no question of trying to go there. To hold sacrificial fires and to perform tapasya etc. is not the way to find Him. People call out to God: Come and show us the path! My soul has become tamopradhan and cannot fly; that is, he cannot go to the Father. In fact, a soul sheds his body and takes another. He can go anywhere from here; a soul can even go to America. If a soul has a relationship with someone else, he could go straight there in a second, but it is impossible for a soul to fly back home. Impure souls cannot go there, and this is why souls call out: O Purifier, come! The Father explains when He comes: I only come when the whole world has become impure. There cannot be a single pure being in the impure world. People believe that the Ganges is the Purifier and this is why they go to bathe in it. However, no one can be purified with water. The old world is impure and the new world is pure. You have now come to the unlimited Father to claim your inheritance. You have to become charitable souls. You souls were satopradhan and are now tamopradhan. You cannot become satopradhan by bathing in the Ganges. It is only the Father’s task to purify the impure. There are rivers of water everywhere. Rain comes from the clouds and everyone experiences it. If rivers of water could purify, they would purify everyone. Only the Father comes and shows you through this one the way to become pure. This one’s soul is his own. The Father says: I don’t have a body of My own. I enter this one every cycle in order to explain to you. You don’t know your own births. They say that the duration of a cycle is hundreds of thousands of years. The Father says: This cycle is of 84 births. No one can take 8.4 million births in 5000 years. The Father explains: You were 16 celestial degrees full in the golden age, then two degrees less and then the degrees gradually continued to decrease; the new world becomes old. The copper and iron ages are called the impure world. These things are not mentioned in the scriptures. Only I am called the Ocean of Knowledge. Do I study any scriptures? I know the beginning, middle and end of this world. Those on the path of devotion cannot have this knowledge. All of that is the knowledge of the path of devotion. People sing: We are degraded sinners! We have no virtues! Have mercy on us! It was because there was mercy for them (L&N) that they changed from humans into deities. This is called the highest-on-high fortune. People go to school to make their fortune; someone becomes a judge and someone else an engineer. That fortune is vicious, whereas your fortune is being made by God. This is why you call out to the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness to come. No one but the Father can teach you and make you into deities. The Father sits here and speaks to souls. The soul says: This is my body. The body does not say: This is my soul. The soul is in the body; he says: This is my body. People say: Don’t make my soul suffer. If a soul were not in that body, he could not speak. The soul says: I shed my body and take another. I have definitely experienced 84 births and have become a resident of hell. You are now once again making effort to become residents of heaven. Only the Father makes you into residents of heaven. The golden age is called heaven. When they say that so-and-so became a resident of heaven, they are telling lies. This is hell. When someone dies, people say that he has gone to heaven. So, why do they invite him back to hell to eat the food of the iron age? He would receive many comfortable facilities in heaven, so why do you invite him back to hell? People don’t have even this much understanding! The Father sits here and explains: This iron age is now to be destroyed; it is to be set on fire. Everything is to be destroyed. You children, who are claiming your inheritance from the Father, will go and rule in the golden age. Who gave this inheritance to Lakshmi and Narayan? The Father. You are now being made worthy by the Father. You say that you are changing from residents of hell and becoming residents of heaven. The Father says: I don’t become a resident of heaven. I only reside in the supreme region. You become residents of hell and residents of heaven. The residential home of souls is the land of peace; from there you go to the land of happiness. This is the land of sorrow which is now to be destroyed. No one knows that God enters the body of Brahma and teaches Raja Yoga. They think that Krishna himself came: they do not even say that God came in the body of Krishna. Krishna cannot be God. He is a master of the world. The Liberator of All is One. He is the Supreme Soul. There is no other spiritual gathering in the world where they understand that they are claiming their inheritance from the Father. Only the one Father makes you pure from impure. The Father says: I am your true Guru and I purify you. The water of the Ganges cannot purify you. This is the world of sinful souls. No matter what people do, they have to come down the ladder. They have to become tamopradhan from satopradhan. You no longer perform devotion. You do not even say: O Rama. He is your Father and is teaching you. You should not even say: O God, come! O Rama. However, many have this habit and so these words emerge. The Father says to you: Remember Me and your sins will be absolved and you will come to Me. You have to remember the One alone. The Father says: This is your last birth. Only at this time do you have a chance to claim whatever inheritance you want. You will not be able to claim it again. The Father has explained: Those who call themselves Hindus originally belonged to the deity religion. Those who belong to the Christian religion never change the name of their religion. Even though they are tamopradhan, they are still in the Christian religion. You are deities but, because you are impure, you call yourselves Hindus. You cannot call yourselves deities. You have forgotten that you were originally deities. None of you call yourselves deities because you have become vicious. This is body consciousness. Everything is explained to you children very clearly. There are no sages or holy men here. To say “I am a businessman” or “I am so-and-so” is body consciousness. You now have to become soul conscious. It requires effort to become soul conscious. You have to claim your inheritance from Baba. Therefore, remember the Father! Let your hands do the work while your heart is with the Father. You are the lovers of the one Beloved. That one Beloved is the Bestower of Salvation for All. He comes when everyone is to receive salvation and heaven is to be established. All name and trace of sorrow will disappear. You children have come here to claim your inheritance of the constant happiness of heaven for 21 births from the unlimited Father. No human being can make anyone into a master of heaven. Shiv Baba comes in Bharat and makes it into heaven. People celebrate the birthday of Shiva, but they have forgotten that they receive their inheritance of heaven from Him. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. 1. Make your fortune elevated on the basis of this study. You have to become deities from human beings. You have to become pure and return home and then go to the new world.
  2. Whilst working with your hands, stay in remembrance of the one Father. Neither listen to nor say wrong things.
Blessing: May you be a victorious jewel who constantly experiences being personally in front of the Beloved by connecting the love of your intellect to Him.
A loving intellect means the love of the intellect is connected to the one Beloved. Those who have love for the One cannot link their love to any other person or possession. They would constantly experience BapDada to be personally in front of them. They cannot even have waste or sinful thoughts against shrimat in their minds. The words, “I eat with You, I sit with You, I fulfil all relationships with You” would always emerge from their lips and in their hearts. Only those who constantly have loving intellects can become victorious jewels.
Slogan: To have thoughts of “I want this, I want that” means asking for something in a royal way.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 19 MAY 2021 : AAJ KI MURLI

19-05-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम बाप के पास आये हो अपनी ऊंच तकदीर बनाने, जितना श्रीमत पर चलेंगे उतना ऊंच तकदीर बनेगी”
प्रश्नः- भक्ति की कौन सी आदत अभी तुम बच्चों में नहीं होनी चाहिए?
उत्तर:- भक्ति में थोड़ा दु:ख होगा, बीमारी होगी तो कहेंगे हे राम, हे भगवान, हाय-हाय करने की आदत भक्ति में होती। अभी तुम्हें कभी भी मुख से ऐसे बोल नहीं निकालने हैं। तुम्हें तो अन्दर ही अन्दर मीठे बाबा को प्यार से याद करना है।
गीत:- तकदीर जगाकर आई हूँ…

ओम् शान्ति। हर एक मनुष्य पुरूषार्थ करते हैं – सुख और शान्ति की तकदीर बनाने। साधू-सन्त, संन्यासी आदि कहते हैं, हमको शान्ति चाहिए। दु:ख हरो, सुख दो। समझते हैं – भगवान ही मनुष्य मात्र का दु:ख-हर्ता, सुख-कर्ता है। अब भगवान को मनुष्य जानते तो हैं नहीं। तुम तो कहते हो शिवबाबा। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर को बाबा नहीं कहेंगे। वह तो देवता है। भगवान को ही बाबा कहेंगे, वह है निराकार, जिसकी पूजा करते हैं। जानते हैं शिवबाबा सभी का है। परन्तु यह ख्याल नहीं आता कि हम बाबा क्यों कहते हैं। बाबा तो एक लौकिक भी है – यह फिर कौन सा बाप है! यह आत्मा कहती है वह निराकार बाप है। वह भी निराकार है, हम आत्मा भी निराकार हैं। साकार बाबा होते हुए भी आत्मा उस बाप को भूलती नहीं है। गॉड फादर है, हम उनके बच्चे हैं। यहाँ कहते हैं परमपिता। अंग्रेजी में कहते हैं – गॉड फादर, सुप्रीम सोल, सबसे ऊंचा। लौकिक बाप तो शरीर का रचयिता है और वह है पारलौकिक बाप। बाप ही बैठ बच्चों को समझाते हैं। बाप को याद करते हैं क्योंकि बाप से वर्सा मिलता है। तुम बाप के पास आये ही हो वर्सा लेने। दु:ख-हर्ता, सुख-कर्ता बाप ही आकर सुख का रास्ता बताते हैं। फिर वहाँ दु:ख का नामनिशान नहीं रहता। यहाँ तो बहुत दु:ख है ना, सब पुकारते हैं। अभी तो दुनिया में बहुत दु:ख आने वाला है। कोई मरते हैं तो कितना दु:खी होते हैं। ‘हाय भगवान’ कह रोते हैं। वही कल्याणकारी बाप है। गाते हो तो जरूर दु:ख हरा है, सुख दिया है ना। बाप आकर समझाते हैं – बच्चे तुम कल्प-कल्प जब बहुत दु:खी पतित हो जाते हो तब पुकारते हो, हे बाबा आओ। मैं कल्प-कल्प आता ही हूँ, संगम पर। पावन दुनिया के आदि और पतित दुनिया के अन्त को संगम कहा जाता है। यह एक ही संगमयुग गाया जाता है। बाप आते हैं सबकी ज्योत जगाने, दु:ख हरकर सुख देने। तुम जानते हो हम पारलौकिक बाप के पास आये हैं, जो बाबा इनमें प्रवेश कर आये हैं। खुद कहते हैं मैं इनमें प्रवेश कर इनका नाम ब्रह्मा रखता हूँ। तुम सब हो ब्रह्माकुमार और कुमारी। तुमको यह निश्चय है कि हम ब्रह्मा की सन्तान बने हैं – बाप से सुख का वर्सा लेने। तुम बच्चों को ही सुख था, जब कि इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। अब है कलियुग, दु:खधाम। उसके बाद फिर सतयुग आयेगा। वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी रिपीट होती है ना। सतयुग में फिर इन लक्ष्मी-नारायण का ही राज्य चाहिए। यह चक्र फिरता ही रहता है। बाबा ने समझाया है तुम नर्कवासी बने हो अब फिर स्वर्गवासी बनना है। तुम देवी-देवताओं का बहुत छोटा झाड़ था। अब तुमको स्मृति आई है, हमने ही 84 जन्म लिए हैं। हम सारे विश्व के मालिक थे, फिर पुनर्जन्म लेते आये हैं। अब तुम्हारे 84 जन्मों के अन्त का भी अन्त है। दुनिया नई से पुरानी जरूर होगी। नई दुनिया पावन थी, अब पुरानी पतित दुनिया है। कितने दु:खी कंगाल हैं। भारत बहुत साहूकार था। पवित्र गृहस्थ आश्रम था। पवित्र प्रवृत्ति मार्ग था, सम्पूर्ण निर्विकारी थे, सर्वगुण सम्पन्न, 16 कला सम्पूर्ण थे। यह बातें शास्त्रों में हैं नहीं। शास्त्र हैं भक्ति मार्ग के लिए। भक्ति की ही रसम-रिवाज उनमें है। बाप से मिलने का रास्ता शास्त्रों से नहीं मिल सकता। समझते भी हैं – भगवान को यहाँ आना है फिर वहाँ पहुँचने की तो बात ही नहीं। यज्ञ, तप आदि करना – वह कोई रास्ता नहीं है। भगवान को पुकारते ही हैं आओ, आकर रास्ता बताओ। हमारी आत्मा तमोप्रधान बन गई है, जिस कारण उड़ नहीं सकती अर्थात् बाप के पास जा नहीं सकती। यूँ तो आत्मा एक शरीर छोड़ दूसरा लेती है। कहाँ की कहाँ चली जाती है। अमेरिका भी जा सकती है। कोई का किसके साथ सम्बन्ध होगा तो आत्मा झट वहाँ उड़ेगी, एक सेकेण्ड में। बाकी उड़कर अपने घर वापिस जाये, ये नहीं हो सकता। पतित वहाँ जा नही सकते, इसलिए पुकारते हैं, हे पतित-पावन आओ। बाप जब आते हैं तो आकर समझाते हैं – मैं आता ही तब हूँ, जब सारी दुनिया पतित है। पतित दुनिया में एक भी पावन नहीं है। समझते हैं गंगा पतित-पावनी है इसलिए जाते हैं स्नान करने। परन्तु पानी से तो कोई पावन हो नहीं सकता। पुरानी दुनिया है ही पतित, नई दुनिया है पावन। अभी तुम बेहद के बाप से वर्सा लेने आये हो। तुमको पुण्य आत्मा बनना है। तुम्हारी आत्मा सतोप्रधान थी सो अब तमोप्रधान है। फिर सतोप्रधान कोई गंगा स्नान से नहीं बनेगी। पतितों को पावन बनाना – यह तो बाप का ही काम है। बाकी वह पानी की नदी तो सब जगह है। बादलों से पानी बरसता है, सबको मिलता है। अगर पानी की नदी पावन बनाये, फिर तो सबको पावन कर दे। पावन बनने की युक्ति बाप ही आकर बताते हैं इन द्वारा। इनकी अपनी आत्मा है। बाप कहते हैं – मुझे अपना शरीर नहीं है। कल्प-कल्प इसमें ही आता हूँ तुमको समझाने। तुम अपने जन्मों को नहीं जानते हो। कल्प की आयु लाखों वर्ष कह देते हैं।

बाप कहते हैं – यह 84 जन्मों का चक्र है। 5 हजार वर्ष में 84 लाख जन्म कोई ले न सके। तो बाप समझाते हैं – स्वर्ग में तुम 16 कला सम्पूर्ण थे फिर 2 कला कम हुई फिर धीरे-धीरे कला कम होती जाती है। नई दुनिया सो फिर पुरानी होती है। द्वापर कलियुग को पतित दुनिया कहा जाता है। यह बातें कोई शास्त्रों में नहीं हैं। मुझे ही ज्ञान का सागर कहते हैं। मैं कोई शास्त्र पढ़ता हूँ क्या? मैं इस सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त को जानता हूँ। भक्ति मार्ग वालों को यह ज्ञान हो नहीं सकता। वह सब है भक्ति का ज्ञान। गाते भी हैं, हम पापी, नींच हैं। हमारे में कोई गुण नाहीं। आपेही तरस परोई… इनके ऊपर तरस किया गया है तब मनुष्य से देवता बने हैं, इनको कहा जाता है ऊंच ते ऊंच तकदीर। स्कूल में तकदीर बनाने जाते हैं। कोई जज़, कोई इन्जीनियर बनते हैं। वह है विकारी तकदीर, यह तुम्हारी बनती है ईश्वर द्वारा तकदीर, इसलिए बुलाते हैं दु:ख-हर्ता सुख-कर्ता, देवता बनाने के लिए सिवाए बाप के कोई पढ़ा न सके। बाप आत्माओं से बैठ बात कर रहे हैं। आत्मा कहती है – यह मेरा शरीर है। शरीर तो नहीं कहेगा, मेरी आत्मा। शरीर के अन्दर आत्मा है, वह कहती है – यह मेरा शरीर है। मनुष्य कहते हैं मेरी आत्मा को न दु:खाओ। आत्मा शरीर में न हो तो बोले भी नहीं। आत्मा कहती है, मैं एक शरीर छोड़ दूसरा लेता हूँ। हमने जरूर 84 जन्म भोगे हैं, नर्कवासी बनें। अब फिर तुम स्वर्गवासी बनने का पुरूषार्थ कर रहे हो। स्वर्गवासी तो बाप ही बनायेंगे। स्वर्ग कहा ही जाता है सतयुग को। यह जो कहते हैं फलाना स्वर्गवासी हुआ, यह झूठ बोलते हैं। यह तो नर्क है। कोई मरा तो कहते स्वर्ग में गया फिर नर्क में क्यों बुलाते हैं कि आकर खाना खाओ। स्वर्ग में तो उनको बहुत वैभव मिलते हैं फिर तुम नर्क में क्यों बुलाते हो? मनुष्यों में इतनी भी समझ नहीं है। बाप बैठ समझाते हैं – अभी यह कलियुग खत्म होना है, इनको आग लगेगी। यह सब खत्म हो जायेंगे। तुम बच्चे जो बाप से वर्सा लेते हो, वह सतयुग में आकर राज्य करेंगे। इन लक्ष्मी-नारायण को यह वर्सा किसने दिया? बाप ने। तुम अभी बाप द्वारा लायक बन रहे हो। तुम कहेंगे हम नर्कवासी से स्वर्गवासी बन रहे हैं। बाप कहते हैं – मैं स्वर्गवासी नहीं बनता हूँ। मैं तो परमधाम में रहता हूँ। नर्कवासी-स्वर्गवासी तुम बनते हो। आत्मा का निवास स्थान शान्तिधाम है फिर तुम सुखधाम में आते हो। यह है ही दु:खधाम, इनका अब विनाश होना है। यह किसको भी पता नहीं है कि भगवान ब्रह्मा तन में आकर राजयोग सिखाते हैं। वह समझते हैं कि कृष्ण आया, कृष्ण के तन में भी नहीं कहते। कृष्ण को भगवान कह न सकें। वह तो विश्व का मालिक है। लिब्रेटर सबका एक है, वह है सुप्रीम आत्मा, परम-आत्मा। दुनिया में कोई भी सतसंग नहीं होता, जहाँ ऐसा समझें कि हम बाप से स्वर्ग का वर्सा लेते हैं। पतित से पावन बनाने वाला तो एक ही बाप है। बाप कहते हैं – मैं तुम्हारा सच्चा गुरू हूँ, तुमको पावन बनाता हूँ। बाकी गंगा का पानी पावन बना नहीं सकता। यह है ही पापात्माओं की दुनिया। कुछ भी करें सीढ़ी नीचे उतरनी ही है। सतोप्रधान से तमोप्रधान बनना ही है। तुम भक्ति नहीं करते हो। हाय-राम भी नहीं कहेंगे। वह तो तुम्हारा बाप है, तुमको पढ़ा रहे हैं। हे भगवान आओ, हे राम भी नहीं कहना चाहिए। परन्तु बहुतों में यह आदत पड़ी हुई है तो अक्षर निकल पड़ते हैं। तुमको बाप कहते हैं – मुझे याद करो तो विकर्म विनाश होंगे और तुम मेरे पास आ जायेंगे। याद एक को ही करना है।

बाप कहते हैं – यह तुम्हारा अन्तिम जन्म है। अभी वर्सा लिया सो लिया, फिर कभी नहीं पा सकेंगे। बाप ने समझाया है, यह जो अपने को हिन्दू कहलाते हैं, वह असुल देवी-देवता धर्म वाले हैं। क्रिश्चियन धर्म वाले कभी नाम नहीं बदलते हैं। भल तमोप्रधान हैं तो भी क्रिश्चियन धर्म में ही हैं। तुम देवी-देवताये हो परन्तु पतित होने के कारण अपने को हिन्दू कह देते हो, अपने को देवता नहीं कह सकते। यह भूल गये हैं कि हम असुल देवी-देवता थे। अपने को देवता धर्म वाला कोई नहीं कहलाते हैं क्योंकि विकारी हैं। यह है देह-अभिमान। बच्चों को बहुत अच्छी तरह समझाया जाता है। यहाँ कोई साधू-सन्त आदि नहीं हैं। हम व्यापारी हैं, फलाना हैं – यह सब है देह-अभिमान। अभी तुमको देही-अभिमानी बनना है। देही-अभिमानी बनने में ही मेहनत है। तुमको बाबा से वर्सा लेना है तो बाप को याद करना है। कम कार डे, दिल यार डे…। तुम आशिक हो, एक माशूक के। सबका सद्गति दाता एक माशूक है। वह आते ही तब हैं, जब सबको सद्गति मिलती है, स्वर्ग की स्थापना होती है, दु:ख का नाम निशान गुम हो जाता है। अभी तुम बच्चे यहाँ आये हो – बेहद के बाप से स्वर्ग का, 21 जन्मों के लिए सदा सुख का वर्सा पाने। और कोई भी मनुष्य-मात्र किसी को स्वर्ग का मालिक बना नहीं सकते। शिवबाबा भारत में ही आकर भारत को स्वर्ग बनाते हैं। शिव जयन्ती भी मनाते हैं परन्तु भूल गये हैं कि बाबा से हमको स्वर्ग का वर्सा मिलता है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) पढ़ाई के आधार पर अपनी तकदीर ऊंच बनानी है, मनुष्य से देवता बनना है। पावन बनकर वापिस घर जाना है फिर नई दुनिया में आना है।

2) हाथों से काम करते – एक बाप की याद में रहना है। कोई भी उल्टी बात न सुननी है, न सुनानी है।

वरदान:- बुद्धि की प्रीत एक प्रीतम से लगाकर सदा सम्मुख की अनुभूति करने वाले विजयी रत्न भव
प्रीत बुद्धि अर्थात् बुद्धि की लगन एक प्रीतम के साथ लगी हुई हो। जिसकी एक के साथ प्रीत है उनकी अन्य किसी भी व्यक्ति वा वैभव के साथ प्रीत जुट नहीं सकती। वे सदा बापदादा को अपने सम्मुख अनुभव करेंगे। उन्हें मन्सा में भी श्रीमत के विपरीत व्यर्थ संकल्प वा विकल्प नहीं आ सकते। उनके मुख से वा दिल से यही बोल निकलते – तुम्हीं से खाऊं, तुम्हीं से बैठूँ….तुम्हीं से सर्व संबंध निभाऊं..ऐसे सदा प्रीत बुद्धि रहने वाले ही विजयी रत्न बनते हैं।
स्लोगन:- चाहिए-चाहिए का संकल्प आना भी रॉयल रूप का मांगना है।

TODAY MURLI 19 MAY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 19 May 2020

19/05/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are now sitting in God’s land in order to go to the land of peace and the land of happiness. This is the company of the Truth where you become the most elevated human beings.
Question: How is it that you children are more elevated, and not less, than the Father?
Answer: Baba says: Children, I do not become the Master of the World. As well as making you into the masters of the world, I also make you into the masters of Brahmand. I, the highest-on-high Father, salute you children. This is why you are even more elevated than I am. I salute you masters. You then salute the Father who makes you this

Om shanti. Baba says “Namaste” to you sweetest, spiritual children. You don’t even respond and say: Baba, namaste. You children know that Baba makes you into the masters of Brahmand as well as the masters of the world. The Father simply becomes the Master of Brahmand; He doesn’t become the Master of the World. He makes you children into the masters of both Brahmand and the world. So, tell Me, who is greater? You children are greater. Therefore, you children say: Namaste. Baba, only You make us into the masters of Brahmand and the world. This is why we say, “Namaste” to You. Muslims say: Salutations to Allah. It is you children with faith who have happiness. Anyone who doesn’t have faith wouldn’t even come here. Those who come here know that they are not coming to a human guru; they are not coming to a human father, human teacher or human guru. You come to the spiritual Father, the spiritual Teacher and the spiritual Satguru. There are innumerable human beings, whereas that One is only one. Previously, no one had His introduction. It is mentioned in the scriptures of the path of devotion that no one knows the Creator or creation. Because they don’t know Him, they are called orphans. Those who are well educated can understand that the Father of all souls is only the one incorporeal One. He comes and becomes our Father and also our Teacher and Satguru. Krishna’s name is glorified in the Gita. The Gita is the jewel of all scriptures; it is the mother of all scriptures; it is the most elevated scripture. Only the Gita is considered to be the mother and father. None of the other scriptures would be called the mother and father. The Shrimad Bhagawad Gita has been remembered as the mother. It was the knowledge of the Gita that emerged from the lotus lips of God. The Father is the Highest on High. Therefore, it is certain that the Gita spoken by the Highest on High is the creator; all other scriptures are its leaves, its creation. An inheritance is never received from a creation. If you do receive it, it would only be for a temporary period. There are so many other scriptures, which human beings teach to human beings. By studying them, they only receive temporary happiness for one birth. All the various studies are taught to human beings by human beings for a temporary period. They only receive temporary happiness. Then, in the next birth, they have to take up another study. Here, there is only the one incorporeal Father from whom you receive the inheritance for 21 births. No human being could give you this. They make you worth not a penny, whereas the Father makes you worth a pound. The Father now sits here and explains to you children. You are all the children of God. Because they call Him omnipresent, they don’t understand the meaning of anything. If the Supreme Soul were in everyone, it would be a fatherhood. If everyone were the Father, how could you receive the inheritance? Whose sorrow would be removed and by whom? Only the Father is called the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. There is no meaning in calling everyone the Father. The Father sits here and explains that this is the kingdom of Ravan. This too is fixed in the drama. Therefore, it is clearly shown in the pictures. It is in the intellects of you children that you are at the most auspicious confluence age. The Father has come to make you into the most elevated human beings. Just as you would receive a status by studying to become a barrister or a doctor, so you also understand what you will become through this study. You are sitting here in the company of the Truth through which you will go to the land of happiness. There are two lands of truth: one is the land of happiness and the other is the land of peace, which is God’s home. The Father is the Creator. Those who become wise by studying with the Father have a duty to do service. The Father says: You have now become clever by understanding everything. Therefore, go to the temples of Shiva and explain to them. Ask them: Why do you offer various fruit, flowers, butter, ghee, uck flowers and roses to Shiva? They do not offer uck flowers at Krishna’s temple. There, they offer very good fragrant flowers. At the temple to Shiva, they only offer uck flowers or roses. However, none of them know the meaning of that. The Father is now teaching you children. It is not a human being teaching you. In the rest of the world, human beings teach human beings, whereas here, God teaches you. No human being can ever be called God. Even Lakshmi and Narayan cannot be called God; they are called deities. Brahma, Vishnu and Shankar are also called deities. Only the one Father is God. He is the Father of all souls. Everyone calls out: O Supreme Father, Supreme Soul! His real name is Shiva and you children are called saligrams. When pundits create a sacrificial fire, they make a very large Shiva lingam and many small saligrams. Souls are called saligrams, and the Supreme Soul is called Shiva. He is the Father of all, and we are all brothers. People even speak of brotherhood. We are children of the Father; we are brothers. So, then, how did we become brothers and sisters? You people are created through the mouth of Prajapita Brahma; you are Brahmins; you are the children of Prajapita Brahma. This is why you are called Brahma Kumars and Kumaris. Achcha, who created Brahma? God. Brahma, Vishnu and Shankar are part of creation. The subtle region is also a creation. You children have emerged through the lotus lips of Brahma. You are called Brahmins. You are adopted, mouth-born children. How does Prajapita Brahma create children? He definitely has to adopt them, just as the followers of gurus are adopted; they are called disciples. Prajapita Brahma is the father of the whole world. He is also called the great-great-grandfather. Brahma, the Father of People, is needed here. There is a Brahma in the subtle region too. Although the names of Brahma, Vishnu and Shankar are remembered as being in the subtle region, there are no people in the subtle region. Who is Prajapita Brahma? The Father sits here and explains all of these things. Brahmin priests also call themselves the children of Brahma. Where is Brahma now? You say that he is sitting here, whereas they say that he existed in the past. Those brahmins call themselves worshippers. You are now Brahmins in a practicalway. All of you children of Prajapita Brahma are brothers and sisters of one another. Shiv Baba adopted Brahma. He says: I enter this old body and teach you Raja Yoga. To change humans into deities is not the task of a human being. Only the Father is called the Creator. The people of Bharat know that Shiva’s birthday is celebrated. Shiva is the Father. People do not know who gave this kingdom to the deities. The Creator of heaven is the Supreme Soul, the One who is also called the Purifier. You souls are originally pure and you then go through the stages of sato, rajo and tamo. Everyone in the iron age is now tamopradhan whereas everyone in the golden age is satopradhan. The kingdom of Lakshmi and Narayan started 5000 years ago and the dynasty of deities lasted for 2500 years. Their children also ruled that kingdom; there were Lakshmi and Narayan the First, the Second etc. People do not know anything of these matters. Everyone is now tamopradhan and impure. Here, not a single human being can be pure. Everyone calls out: O Purifier, come! Therefore, this world is impure. This is called iron-aged hell. The new world is called heaven, the pure world. How then do you become impure? No one knows this. There isn’t a single human being in Bharat who knows about his 84 births. People take the maximum of 84 births and the minimum of one birth. Bharat is considered to be the imperishable land because this is the land where Shiv Baba incarnates. The land of Bharat can never be destroyed, whereas all other lands will be destroyed. The original eternal deity religion has now disappeared. No one here would call himself a deity because deities were pure and satopradhan. They have all now become impure worshippers. The Father sits here and explains all of this. God speaks: God is the Father of all and He only comes once in Bharat. When does He come? At this most elevated confluence age. It is only this confluence age that is called the most elevated age. This is the confluence age, the time of the iron age changing into the golden age, from impure to pure. Impure human beings live in the iron age whereas pure deities live in the golden age. This is why this age is called the most elevated confluence age when the Father comes and changes you from impure to pure. You have come here to change from ordinary humans into deities, the most elevated beings. Human beings do not even know that we souls live in the land of nirvana. We come here from there in order to play our parts. The duration of this play is 5000 years. We have to play our parts in this unlimited play. All human beings are actors. This cycle of the drama continues to turn; it can never stop. First of all, the deities come to play their parts in the golden age. Then, there are the warriors of the silver age. This play has to be understood. This world is now a forest of thorns; all human beings are unhappy. After this iron age, the golden age will come. There are so many human beings in the iron age. How many would there be in the golden age? Very few. There would only be the original and eternal sun-dynasty deities. This old world now has to be transformed. From the world of ordinary human beings, it will change into the world of deities. There used to be the original eternal deity religion, but no one would call himself a deity now. They have forgotten their own religion. Only the people of Bharat have forgotten their own religion. Because they live in Hindustan, they call their religion Hindu. Deities are pure, whereas Hindus are impure. This is why they cannot call themselves deities. They continue to worship deities. They call themselves sinful and degraded. The Father explains: You were worthy of being worshipped, but you have now become impure worshippers. The meaning of “hum so” has also been explained to you. They say that each soul is the Supreme Soul. They have interpreted that wrongly. Bodies are false and Maya is false. You would not say this in the golden age. The Father creates the land of truth and then Ravan comes and makes it into the land of falsehood. The Father now comes and explains all of this to you. What is a soul and what is the Supreme Soul? No one knows this. The Father says: You souls are points of light. Each one’s part of 84 births is fixed. No one knows what we souls are like. They only know that so-and-so is a barrister or such-and-such, but no one knows anything of souls. Only when the Father comes does He give you recognition. Your eternal parts of 84 births are recorded in you souls. Your parts can never be destroyed. This Bharat used to be the garden of flowers where there was nothing but happiness. Now there is nothing but sorrow. That Father now gives us knowledge. You children are now listening to new things from the Father. The newest thing is that you have to change from ordinary humans into deities. You know that it isn’t a human being who is teaching you the study to change from a human being to a deity; it is God who teaches this study. To call God omnipresent means to insult Him. The Father now explains: I make Bharat into heaven every 5000 years. Ravan comes and makes it into hell. No one in the world knows these things. Only the Father comes and changes you from ordinary humans into deities. It has been remembered that God washes the dirty clothes. There, there is no vice; that world is completely viceless. Now, the world is vicious. People call out: O Purifier, come! Ravan has made us impure. However, they do not know when Ravan came or what happened. Ravan has made you so poverty-stricken! Five thousand years ago Bharat became so wealthy; there were palaces of gold, studded with diamonds and jewels; there was so much wealth! Look at the state it is now in! No one, but the Father, can make Bharat the crown (the highest land). You now say that Shiv Baba is making Bharat into heaven. The Father says: Death is now standing ahead of you. You are all in the stage of retirement. You now have to return home. Therefore, consider yourselves to be souls and constantly remember Me alone so that your sins will be burnt away. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. We are Brahmins, the mouth-born children of Brahma. God Himself is teaching us this study to change from ordinary humans into deities. Stay in this intoxication and happiness. It is at this most auspicious confluence age that you have to make effort to become the most elevated human beings.
  2. It is now our stage of retirement. Death is standing ahead of us. We have to return home. This is why we have to burn away all our sins by remaining in remembrance of the Father.
Blessing: May you constantly have the awareness of being a spiritual pilgrim and remain beyond, detached and free from attachment.
A spiritual pilgrim constantly continues to move forward on the pilgrimage of remembrance. This pilgrimage always gives happiness. Those who remain on the spiritual pilgrimage do not need to go on any other pilgrimages. All other pilgrimages are merged in this pilgrimage. All the wanderings of the mind and body finish. So, always have the awareness that you are a spiritual pilgrim for a pilgrim does not have any attachment to anyone. He receives the blessing to remain easily beyond, detached and free from attachment.
Slogan: Constantly continue to sing the song, “Wah Baba! Wah, my fortune! and Wah, sweet family!”

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 19 MAY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 19 May 2020

Murli Pdf for Print : – 

19-05-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम अभी शान्तिधाम, सुखधाम में जाने के लिए ईश्वरीय धाम में बैठे हो, यह सत का संग है, जहाँ तुम पुरूषोत्तम बन रहे हो”
प्रश्नः- तुम बच्चे बाप से भी ऊंच हो, नींच नहीं – कैसे?
उत्तर:- बाबा कहते – बच्चे, मैं विश्व का मालिक नहीं बनता, तुम्हें विश्व का मालिक बनाता हूँ तो ब्रह्माण्ड का भी मालिक बनाता हूँ। मैं ऊंच ते ऊंच बाप तुम बच्चों को नमस्ते करता हूँ, इसलिए तुम मेरे से भी ऊंच हो, मैं तुम मालिकों को सलाम करता हूँ। तुम फिर ऐसा बनाने वाले बाप को सलाम करते हो।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चों को नमस्ते। रेसपान्ड भी नहीं करते हो – बाबा नमस्ते, क्योंकि बच्चे जानते हैं बाबा हमको ब्रह्माण्ड का मालिक भी बनाते हैं और विश्व का मालिक भी बनाते हैं। बाप तो सिर्फ ब्रह्माण्ड का मालिक बनते हैं, विश्व का मालिक नहीं बनते। बच्चों को ब्रह्माण्ड और विश्व दोनों का मालिक बनाते हैं तो बताओ बड़ा कौन ठहरा? बच्चे बड़े ठहरे ना इसलिए बच्चे फिर नमस्ते करते हैं। बाबा आप ही हमको ब्रह्माण्ड और विश्व का मालिक बनाते हो इसलिए आपको नमस्ते। मुसलमान लोग भी मालेकम् सलाम, सलाम मालेकम् कहते हैं ना। तुम बच्चों को यह खुशी है। जिनको निश्चय है, निश्चय बिगर तो कोई यहाँ आ भी न सकें। यहाँ जो आते हैं वह जानते हैं हम कोई मनुष्य गुरू के पास नहीं जाते हैं। मनुष्य बाप के पास, टीचर के पास वा मनुष्य गुरू के पास नहीं जाते। तुम आते हो रूहानी बाप, रूहानी टीचर, रूहानी सतगुरू के पास। वह मनुष्य तो अनेक हैं। यह एक ही है। यह परिचय कोई को भी था नहीं। भक्ति मार्ग के शास्त्रों में भी है कि रचता और रचना को कोई भी नहीं जानते। न जानने कारण, उनको आरफन कहा जाता है। जो अच्छे पढ़े-लिखे होते हैं, समझ सकते हैं, हम सभी आत्माओं का बाप एक ही निराकार है। वह आ करके बाप, टीचर, सतगुरू भी बनते हैं। गीता में कृष्ण का नाम बाला है। गीता है सर्वशास्त्रमई शिरोमणी, सबसे उत्तम ते उत्तम। गीता को ही माई बाप कहा जाता है और जो भी शास्त्र हैं, उनको मात-पिता नहीं कहेंगे। श्रीमद् भगवत गीता माता गाई जाती है। भगवान के मुख-कमल से निकली हुई गीता का ज्ञान। ऊंच ते ऊंच बाप है तो जरूर ऊंच ते ऊंच की ही गाई हुई गीता हो गई क्रियेटर। बाकी सब शास्त्र हैं उनके पत्ते, क्रियेशन। रचना से कभी वर्सा मिल न सके। अगर मिलेगा भी तो अल्पकाल के लिए। दूसरे इतने ढेर शास्त्र हैं, जिनके पढ़ने से अल्पकाल का सुख मिलता है एक जन्म के लिए। जो मनुष्य ही मनुष्यों को पढ़ाते हैं। हर प्रकार की जो भी पढ़ाईयाँ हैं वह अल्पकाल के लिए मनुष्य, मनुष्य को पढ़ाते हैं। अल्पकाल का सुख मिला फिर दूसरे जन्म में दूसरी पढ़ाई पढ़नी पड़े। यहाँ तो एक निराकार बाप ही है जो 21 जन्मों के लिए वर्सा देते हैं। कोई मनुष्य तो दे न सके। वह तो वर्थ नाट ए पेनी बना देते हैं। बाप बनाते हैं पाउण्ड। अभी बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं। तुम सब ईश्वर के बच्चे हो ना। सर्वव्यापी कहने से अर्थ कुछ नहीं समझते। सबमें परमात्मा है तो फिर फादरहुड हो जाता है। फादर ही फादर तो फिर वर्सा कहाँ से मिले! किसका दु:ख कौन हरे! बाप को ही दु:ख हर्ता, सुख कर्ता कहा जाता है। फादर ही फादर का तो कोई अर्थ ही नहीं निकलता। बाप बैठ समझाते हैं – यह है ही रावण राज्य। यह भी ड्रामा में नूँध है इसलिए चित्रों में भी क्लीयर कर दिखाया है।

तुम बच्चों की बुद्धि में है – हम पुरूषोत्तम संगमयुग पर हैं। बाप पुरूषोत्तम बनाने आये हुए हैं। जैसे बैरिस्टरी, डॉक्टरी आदि पढ़ते हैं जिससे मर्तबा पाते हैं। समझते हैं इस पढ़ाई से हम फलाना बनूँगा। यहाँ तुम सत के संग में बैठे हो, जिससे तुम सुखधाम में जाते हो। सत धाम भी दो हैं – एक सुखधाम, दूसरा है शान्तिधाम। यह है ईश्वर का धाम। बाप रचता है ना। जो बाप द्वारा समझकर होशियार होते जाते हैं – उनका कर्तव्य है सर्विस करना। बाप कहेंगे तुम अभी समझकर होशियार हुए हो तो शिव के मन्दिर में जाकर समझाओ, उन्हें बोलो इस पर फल, फूल, मक्खन, घी, अक के फूल, गुलाब के फूल वेरायटी क्यों चढ़ाते हो? कृष्ण के मन्दिर में अक के फूल नहीं चढ़ाते हैं। वहाँ बहुत अच्छे खुशबूदार फूल ले जाते हैं। शिव के आगे अक के फूल तो गुलाब के फूल भी चढ़ाते हैं। अर्थ तो कोई जानते नहीं। इस समय तुम बच्चों को बाप पढ़ाते हैं, कोई मनुष्य नहीं पढ़ाते। और सारी दुनिया में मनुष्यों को मनुष्य पढ़ाते हैं। तुमको भगवान पढ़ाते हैं। कोई मनुष्य को भगवान कदाचित कहा नहीं जाता। लक्ष्मी-नारायण को भी भगवान नहीं, उनको देवी-देवता कहा जाता है। ब्रह्मा-विष्णु-शंकर को भी देवता कहेंगे। भगवान एक बाप ही है, वह है सभी आत्माओं का बाप। सभी कहते भी हैं – हे परमपिता परमात्मा। उनका सच्चा-सच्चा नाम है शिव और तुम बच्चे हो सालिग्राम। पण्डित लोग जब रूद्र यज्ञ रचते हैं तो शिव का बहुत बड़ा लिंग बनाते हैं और सालिग्राम छोटे-छोटे बनाते हैं। सालिग्राम कहा जाता है आत्मा को। शिव कहा जाता है परमात्मा को। वह सभी का बाप है, हम सब हैं भाई-भाई, कहते भी हैं ब्रदरहुड। बाप के बच्चे हम भाई-भाई हैं। फिर भाई-बहन कैसे हुए? प्रजापिता ब्रह्मा के मुख से प्रजा रची जाती है। वह हैं ब्राह्मण और ब्राह्मणियाँ। हम प्रजापिता ब्रह्मा की सन्तान हैं, इसलिए बी.के. कहलाते हैं। अच्छा, ब्रह्मा को किसने पैदा किया? भगवान ने। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर…. यह सब क्रियेशन हैं। सूक्ष्मवतन की भी रचना हो गई। ब्रह्मा मुख कमल से तुम बच्चे निकले हो। ब्राह्मण-ब्राह्मणियाँ कहलाते हो। तुम ब्रह्मा मुख वंशावली एडाप्टेड हो। प्रजापिता ब्रह्मा बच्चे कैसे पैदा करेंगे, जरूर एडाप्ट करेंगे। जैसे गुरू के फालोअर्स एडाप्ट होते हैं, उनको कहेंगे शिष्य। तो प्रजापिता ब्रह्मा सारी दुनिया का पिता हो गया। उनको कहा जाता है – ग्रेट-ग्रेट ग्रैन्ड फादर। प्रजापिता ब्रह्मा तो यहाँ चाहिए ना। सूक्ष्मवतन में भी ब्रह्मा है। नाम गाया हुआ है ब्रह्मा, विष्णु, शंकर परन्तु सूक्ष्मवतन में प्रजा तो होती नहीं। प्रजापिता ब्रह्मा कौन है, यह सब बाप बैठ समझाते हैं। वह ब्राह्मण लोग भी अपने को ब्रह्मा की औलाद कहते हैं। अब ब्रह्मा कहाँ है? तुम कहेंगे यह बैठे हैं, वह कहेंगे होकर गया है। वह फिर अपने को पुजारी ब्राह्मण कहलाते हैं। अभी तुम तो प्रैक्टिकल में हो। प्रजापिता ब्रह्मा के बच्चे आपस में भाई-बहन हो गये। ब्रह्मा को एडाप्ट किया है शिवबाबा ने। कहते हैं मैं इस बूढ़े तन में प्रवेश कर तुमको राजयोग सिखलाता हूँ। मनुष्य को देवता बनाना – यह कोई मनुष्य का काम नहीं है। बाप को ही रचता कहा जाता है। भारतवासी जानते हैं शिव जयन्ती भी मनाई जाती है। शिव है बाप। मनुष्यों को यह भी पता नहीं है कि देवी-देवताओं को यह राज्य किसने दिया? स्वर्ग का रचयिता है ही परम आत्मा, जिसको पतित-पावन कहा जाता है। आत्मा असुल पवित्र होती है, फिर सतो-रजो-तमो में आती है। इस समय कलियुग में सब हैं तमोप्रधान, सतयुग में सतोप्रधान थे। आज से 5 हज़ार वर्ष पहले इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। 2500 वर्ष देवताओं की डिनायस्टी चली। उनके बच्चों ने भी राज्य किया ना। लक्ष्मी-नारायण दी फर्स्ट, दी सेकण्ड, ऐसे चला आता है। मनुष्यों को इन बातों का कुछ भी पता नहीं है। इस समय हैं सब तमोप्रधान, पतित। यहाँ एक भी मनुष्य पावन हो ही नहीं सकता। सभी पुकारते हैं हे पतित-पावन आओ। तो पतित दुनिया हुई ना। इनको ही कलियुग नर्क कहा जाता है। नई दुनिया को स्वर्ग, पावन दुनिया कहा जाता है। फिर पतित कैसे बनें, यह कोई नहीं जानते। भारत में एक भी मनुष्य नहीं जो अपने 84 जन्मों को जानता हो। मनुष्य मैक्सीमम 84 जन्म लेते हैं, मिनीमम एक जन्म।

भारत को अविनाशी खण्ड माना गया है क्योंकि यहाँ ही शिवबाबा का अवतरण होता है। भारत खण्ड कभी विनाश हो नहीं सकता। बाकी जो अनेक खण्ड हैं वह सब विनाश हो जायेंगे। इस समय आदि सनातन देवी-देवता धर्म प्राय: लोप हो गया है। कोई भी अपने को देवता नहीं कहलाते हैं क्योंकि देवतायें सतोप्रधान पावन थे। अभी तो सभी पतित पुजारी बन गये हैं। यह भी बाप बैठ समझाते हैं, भगवानुवाच है ना। भगवान सभी का बाप है, वह एक ही बार भारत में आते हैं। कब आते हैं? पुरूषोत्तम संगमयुग पर। इस संगमयुग को ही पुरूषोत्तम कहा जाता है। यह संगमयुग है कलियुग से सतयुग, पतित से पावन बनने का। कलियुग में रहते हैं पतित मनुष्य, सतयुग में हैं पावन देवता इसलिए इनको पुरूषोत्तम संगमयुग कहा जाता है, जबकि बाप आकर पतित से पावन बनाते हैं। तुम आये ही हो मनुष्य से देवता पुरूषोत्तम बनने। मनुष्य तो यह भी नहीं जानते कि हम आत्मायें निर्वाणधाम में रहती हैं। वहाँ से आते हैं पार्ट बजाने। इस नाटक की आयु 5 हज़ार वर्ष है। हम इस बेहद के नाटक में पार्ट बजाते हैं। इतने सब मनुष्य पार्टधारी हैं। यह ड्रामा का चक्र फिरता रहता है। कभी बन्द होने का नहीं है। पहले-पहले इस नाटक में सतयुग में पार्ट बजाने आते हैं देवी-देवता। फिर त्रेता में क्षत्रिय। इस नाटक को भी जानना चाहिए ना। यह है ही काँटों का जंगल। सब मनुष्य दु:खी हैं। कलियुग के बाद फिर सतयुग आता है। कलियुग में ढेर मनुष्य हैं, सतयुग में कितने होंगे? बहुत थोड़े। आदि सनातन सूर्यवंशी देवी-देवतायें ही होंगे। यह पुरानी दुनिया अब बदलनी है। मनुष्य सृष्टि से फिर देवताओं की सृष्टि होगी। आदि सनातन देवी-देवता धर्म था। परन्तु अब अपने को देवता कहलाते नहीं। अपने धर्म को ही भूल गये हैं। यह सिर्फ भारतवासी ही हैं जो अपने धर्म को भूल गये हैं, हिन्दुस्तान में रहने कारण हिन्दू धर्म कह देते हैं। देवतायें तो पावन थे, यह हैं पतित इसलिए अपने को देवता कह नहीं सकते। देवताओं की पूजा करते रहते हैं। अपने को पापी नींच कहते। अब बाप समझाते हैं तुम ही पूज्य थे फिर तुम ही पुजारी पतित बने हो। हम सो का अर्थ भी समझाया है। वह कह देते आत्मा सो परमात्मा। यह है झूठा अर्थ, झूठी काया, झूठी माया. . . . सतयुग में ऐसे नहीं कहेंगे। सचखण्ड की स्थापना बाप करते हैं, झूठखण्ड फिर रावण बनाते हैं। यह भी बाप आकर समझाते हैं – आत्मा क्या है, परमात्मा क्या है। यह भी कोई नहीं जानते। बाप कहते हैं तुम आत्मा बिन्दी हो, तुम्हारे में 84 जन्मों का पार्ट नूँधा हुआ है। हम आत्मा कैसी हैं – यह कोई नहीं जानते हैं। हम बैरिस्टर हैं, फलाना हैं – यह जानते हैं, बाकी आत्मा को एक भी नहीं जानते। बाप ही आकर पहचान देते हैं। तुम्हारी आत्मा में 84 जन्मों का पार्ट अविनाशी नूँधा हुआ है, जो कभी विनाश नहीं हो सकता। यही भारत गॉर्डन ऑफ फ्लावर था। सुख ही सुख था, अभी दु:ख ही दु:ख है। यह बाप नॉलेज देते हैं।

तुम बच्चे बाप द्वारा अभी नई-नई बातें सुनते हो। सबसे नई बात है – तुम्हें मनुष्य से देवता बनना है। तुम जानते हो मनुष्य से देवता बनने की पढ़ाई कोई मनुष्य नहीं पढ़ाते हैं, भगवान पढ़ाते हैं। उस भगवान को सर्वव्यापी कहना यह तो गाली देना है। अब बाप समझाते हैं – मैं हर 5 हज़ार वर्ष बाद आकर भारत को स्वर्ग बनाता हूँ। रावण नर्क बनाते हैं। यह बातें दुनिया में और कोई नहीं जानते। बाप ही आकर तुमको मनुष्य से देवता बनाते हैं। गायन भी है – मूत पलीती कपड़ धोए…..। वहाँ विकार होता नहीं। वह है ही सम्पूर्ण निर्विकारी दुनिया। अभी है विशश वर्ल्ड। बुलाते भी हैं – पतित-पावन आओ। हमको रावण ने पतित बनाया है परन्तु जानते नहीं कि रावण कब आया, क्या हुआ! रावण ने कितना कंगाल बना दिया है। भारत 5 हज़ार वर्ष पहले कितना साहूकार था। सोने, हीरे-जवाहरों के महल थे। कितना धन था। अभी क्या हालत है! सो सिवाए बाप के सिरताज कोई बना न सके। अभी तुम कहते हो शिवबाबा भारत को हेविन बनाते हैं। अब बाप कहते हैं मौत सामने खड़ा है। तुम वानप्रस्थी हो। अब जाना है वापिस इसलिए अपने को आत्मा समझो, मामेकम् याद करो तो पाप भस्म हो जायेंगे। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) हम ब्रह्मा मुख वंशावली ब्राह्मण हैं, स्वयं भगवान हमें मनुष्य से देवता बनाने की पढ़ाई पढ़ा रहे हैं, इस नशे और खुशी में रहना है। पुरूषोत्तम संगमयुग पर पुरूषोत्तम बनने का पुरूषार्थ करना है।

2) अभी हमारी वानप्रस्थ अवस्था है, मौत सामने खड़ा है, वापिस घर जाना है….. इसलिए बाप की याद से सब पापों को भस्म करना है।

वरदान:- रूहानी यात्री हूँ – इस स्मृति से सदा उपराम, न्यारे और निर्मोही भव
रूहानी यात्री सदा याद की यात्रा में आगे बढ़ते रहते हैं, यह यात्रा सदा ही सुखदाई है। जो रूहानी यात्रा में तत्पर रहते हैं, उन्हें दूसरी कोई यात्रा करने की आवश्यकता नहीं। इस यात्रा में सब यात्रायें समाई हुई हैं। मन वा तन से भटकना बंद हो जाता है। तो सदा यही स्मृति रहे कि हम रूहानी यात्री हैं, यात्री का किसी में भी मोह नहीं होता। उन्हें सहज ही उपराम, न्यारे वा निर्मोही बनने का वरदान मिल जाता है।
स्लोगन:- सदा वाह बाबा, वाह तकदीर और वाह मीठा परिवार – यही गीत गाते रहो।

TODAY MURLI 19 MAY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 19 May 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 18 May 2019 :- Click Here

19/05/19
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
28/11/84

The easy way to make your thoughts fruitful.

Today, the World Creator, the World Benefactor Father, went on a tour around the whole world, in order to look at all the special children. He saw the knowledgeable souls and also the loving and co-operative children. He saw the devotee children and also the children who have no knowledge. He saw all the various souls totally absorbed in their love. Some were lost in carrying out a particular task, some were absorbed in the task of breaking something, and others were absorbed in the task of repairing something, but all were definitely absorbed. The thought in everyone’s mind was: Let me find something. Let me take something. Let me attain something. Each one was engaged in his own task with that aim. Although they had limited attainments, Baba saw in all directions that everyone had the same thought: Let me find something, let me become something. In the midst of this, Baba especially saw the Brahmin children. Whether in this land or abroad, Baba saw the same thought in each one: Let me now do something. Let me do something special for the unlimited task. Let me imbibe a speciality in myself and become a special soul. Baba saw such enthusiasm in the majority of children. Baba saw the practical form of the seed of zeal and enthusiasm in each one’s efforts and also the atmosphere of the time. In order to make this seed of enthusiasm constant, it has to be watered with attention again and again, and checked; that is, the way to make it grow is to continue to give it sunshine. It is in this that you become numberwise. Everyone knows how to sow seeds, but the difference arises when it comes to sustaining it and making it bear fruit.

Every day at amrit vela, BapDada sees this game or effort of love that you children make throughout the day. Each one of you has the best of all thoughts of enthusiasm for yourself and for service: “From now on, I will do this and I will do this. I will definitely do this. I will definitely do this and show everyone.” You continue to sow seeds of such elevated thoughts. In your heart-to-heart conversations with BapDada, you say very sweet things, but what happens when you sustain that thought, that is, that seed, to put it into a practical form? In one thing or another, either in the method of making it grow, or in the speciality of making it fruitful, you become numberwise according to your capacity. The easy way to make the seed of any thought fruitful is just one thing: constantly continue to fill that seed with the strength of all powers from the Father, the Seed, at all times. Through the Seed form, the seed of your thoughts will easily and automatically grow and become fruitful. However, because of not having a constant connection with the Seed, you make other souls or facilities the method for growth. Then, because of that, you take more time and effort in the expansion of, “Should I do it like this or like that? I should do it like this.” You make another soul or facility your support. Instead of it receiving water and sunshine from the Ocean and the Sun, you water it with all the other facilities and give it the sakaash of considering souls to be your support. Therefore, the seed cannot become fruitful. This is why, even after making effort, even after giving your time, your enthusiasm decreases as you move along, when there isn’t the attainment of visible fruit and you become disheartened with yourself, with your companions and with service. The waves of sometimes happiness and sometimes sadness make the boat of Brahmin life sometimes rock and sometimes move along well. This is the condition of the lives of some of you children nowadays. You are moving along, you are carrying out a task, but you are not experiencing what you should and, therefore, although there is happiness, you are not dancing in happiness. You are moving along but not at a fast speed. You are content that you have become those who have an elevated life, that you now belong to the Father, that you are now servers and have moved away from the world of sorrow and suffering. However, in the midst of contentment, even against your conscious wish and without your understanding why it happens, waves of discontentment emerge. This is because, although knowledge is easy, and remembrance is easy, it is sometimes easy and sometimes difficult to be loving and detached in your relationships and connections and to fulfil that responsibility.

The Brahmin family and the household of service are called relationships and connections. It is in this that you don’t experience what you should in some way or another. This is why there are both types of wave. Now, because of the closeness of time, this speed of effort will not enable you to reach your final destination according to the time. It is now time to become a destroyer of obstacles and to enable unhappy souls to experience happiness and comfort in the midst of the obstacles of the world. Only someone who has had the stage of a destroyer of obstacles over a long period of time is able to carry out the task of destroying obstacles. If you are even now still busy ending the obstacles that have come in your life and you are using your energy for that, how would you be able to become an instrument to give power to others? Become free from obstacles and accumulate a stock of powers, for only then will you become an embodiment of power and be able to carry out the task of a destroyer of obstacles. Do you understand?

Baba saw two things especially. The children in Bharat who don’t have knowledge are busy taking a seat or in helping someone else to take a seat. Day and night, and even in their dreams, they only see the seat, whereas Brahmin children are engaged in setting themselves. You have received the seat, but you are setting yourselves. Abroad, they are engaged in finding a method to protect themselves from the destructive force that they themselves have created. The life of the majority is not a life, but a question mark. Those without knowledge are searching for their protection whereas the knowledgeable children are engaged in hoisting the flag of revelation. The condition of the people of the world is: “Now, save us from this distress!” Give souls who are wandering around in many types of distress the destination of peace. Achcha.

To those who are always set on their seat of the stage of perfection, to those who are destroyers of obstacles of the self and the world, to those who make every seed of elevated thought fruitful by having a relationship with the Father, the Seed, and who eat the practical fruit of that, to the children who always remain content and are jewels of contentment, BapDada’s love, remembrance and namaste.

BapDada meeting the kumaris of the Hostel:

1. You are always happy seeing your fortune, are you not? You have been saved from taking the wrong path. Instead of experiencing loss, you have made your life one in which you earn. In worldly life, without knowledge, there is nothing but loss, whereas in gyani life, there is nothing but earning at every second. All Brahmins are fortunate anyway, but kumaris are doubly fortunate. To become a Brahma Kumari in a kumari life, to become a Brahmin, is very great. It is not a small thing; it is a very big thing. Do you have the intoxication of what you have become? From being an ordinary kumari, you have become a Shakti form. You are the Shaktis who destroy Maya, are you not? You are not those who are afraid of Maya, but those who destroy Maya. You are not weak, you are courageous. You aren’t afraid of small things, are you? If you always remember your elevated attainment, those small things will seem like nothing. Now, have you made a deal for your whole life or only for the time that you are in the hostel? By having this understanding, none of you can ever go from an elevated life into an ordinary life. If you ask a millionaire to become poor, would he become that? If someone becomes that due to his circumstances, they don’t like it. So, this life is one of having self-sovereignty. You cannot go from this into an ordinary life. So, having become sensible, are you experiencing everything or are you moving along with one another’s company? Have you decided with your own intellect? You have created this life with the judgement of your own conscience, have you not? Or, have you just come along because your parents asked you to? Achcha.

2. Did you kumaris offer yourselves? Will you go on service wherever you are sent? Have you made a firm deal or a weak deal? If it is a firm deal, then are you ready to sit wherever you are made to sit? If you have any bondage, then it is not a true deal. If you yourselves are ready, no one can stop you. A goat can be bound and kept anywhere, but no one can bind a lion. So how can a lioness be bound to anyone? They are free even when they are living in a jungle. So, who are you? Lionesses. A lioness means one who comes onto the field. When you have one faith and one strength, then, when you children have courage, the Father helps. No matter how strong a bond may be, on the basis of courage, even that strong bond can be easily broken. For instance, it is shown that the locks on the jail were opened; similarly, your bonds will also break. Therefore, become like that. If there is the slightest bond, burn it with the fire of yoga. When it is burnt, no name or trace of it will remain. By breaking it, it can still be tied again with a knot. Therefore, don’t break it, but burn it and you will become free for all time. Achcha.

Selected avyakt elevated versions

Become easy-natured and you will continue to achieve success.

The main sanskar of Brahmins is to be complete renunciates. It is only through renunciation that you develop the virtue of easiness and tolerance in your life. Those who have easiness and tolerance will definitely attract others and be able to be loving towards one another. Those who themselves remain light and easy are able to make others light and easy. To be light and easy means that whatever you hear, see or do should be filled with essence, then you will only take the essence of everything. Let there be essence filled in whatever you do.

Those who are themselves easy effort makers will be able to make others into easy effort-makers. Easy effort-makers will be all-rounders in everything, and nothing will be visibly lacking in them. They will not lose courage in anything. They will never say that they are unable to do something. With this one virtue of easiness and lightness, they are able to be a sample in everything and are able to pass with honour. You saw sakar Baba: to the extent that he was knowledge-full, accordingly he had an easy nature. This is known as having sanskars of a child: to be old with the older ones and to be a child with the younger ones. Follow the father in this way and be easy-natured and light.

The method to make the sanskars of others easy is to say , “Ha ji”. When you “Ha ji” here, then your subjects will also say “Ha ji” to you in the golden age. If you say “Na ji” here, then your the subjects will salute you from a distance. So remove the word “No”. By saying “Ha ji” to everything, you will develop the sanskar of being easy and light. In order to become an image of success imbibe the virtue of easiness, lightness and tolerance. A person with patience does everything with careful consideration and achieves success through that. In the same way, those who say “Ha ji”, are easy-natured, and with the power of tolerance they are able to cool anyone with even very harsh sanskars and are able to make a difficult task easy.

The pictures of the deities that are created as your memorials also definitely portray an easy and light nature. They especially show this virtue. They show easiness in their features which you refer to as innocence. To the extent that someone is an easy effort-maker, accordingly, they will be easy in their thoughts, words and actions. This is known as being an angel. Together with the inculcation of the virtue of easiness, you also definitely need the power to accommodate and tolerate. If there aren’t the powers to accommodate and tolerate, then easiness takes on a form of great innocence and in some instances, innocence causes great damage. So, you mustn’t become easy-natured to that extent.

Because of the virtue of easiness, even the Father is called the Lord of Innocence. However, together with being the Lord of Innocence, He is also the Almighty Authority. He is not just the Lord of Innocence. So you too need to imbibe the virtue of easiness, but also always remember your form of power. If you forget your form of power and just remember your form of innocence, then you will be shot by Maya. Therefore, become such a form of power that before Maya tries to oppose you, she salutes you. You have to remain very cautious, careful and clever. In your Brahmin life, become full of all specialities such that you are always easy-natured. Let your words be light and easy and your actions easy-natured. Constantly follow the directions of One, and have all relationships with One. Whilst attaining everything from One, have the practice of constantly being stable. Constantly remain happy and distribute the treasures of happiness.

In order to bring the virtue of easiness into your life, you have to pay attention to just one thing at the present time. The foundation of your stage should not be built on the praise you receive. If your stage depends on praise, then you will have the desire to receive the fruit of the actions you perform. If you receive praise, your stage remains good and if you are defamed, then you become like orphans. You then let go of your stage and forget the Lord and Master. So never think of being praised. Don’t base your stage on the praise you receive, only then will you be said to be easy-natured. By making easiness and lightness your original nature, you easily develop the power to pack up. Those who have an easy nature will be loving to all and they will definitely receive co-operation from everyone. This is why they are easily able to face everything and pack up everything. To the extent that you have an easy nature, Maya will not oppose you so much. Then you are loved by all.

Those who have an easy nature don’t have so many waste thoughts. Their time is not wasted either. Because of not having any waste thoughts, their intellect is unlimited and far-sighted. This is why no adverse situation comes to oppose them. To the extent that there is easiness, there will also be cleanliness. Cleanliness attracts everyone towards itself. Cleanliness means honesty and truthfulness and that will come when you have an easy nature. Those who have an easy nature can be one with many forms. Something delicate can be moulded into any form. You have become gold, but now melt the gold in a fire so that it can be moulded. Because of this weakness, there is a lack of success in service. Don’t look at the past of the self or of others and you will become easy-natured. The virtue of sweetness is visible in those who are easy-natured. Sweetness is visible in a practical way in their eyes, on their lips and in their activity. To the extent that someone is clear, so they become easy and elevated. Clarity brings you close to your elevated stage. To the extent that there is clarity, accordingly there is success and equality. Clarity, easiness and being elevated makes you equal to the Father.

Blessing: May you be worthy of receiving blessings from all and transform yourself by putting a full stop to any situation.
You can put a full stop to any situation when you have the awareness of the Father, the Point form and the point form of souls, and when you have controlling power. The children who transform themselves in any situation and who offer to put a full stop become worthy of receiving blessings. They receive blessings from themselves, that is, they receive happiness and they also receive blessings from the Father and the Brahmin family.
Slogan: Put a stamp of determination every now and then to the thoughts you create and you will become victorious.

 

*** Om Shanti ***

Notice:Today is the third Sunday of the month and so, let everyone gather together from 6.30 pm to 7.30 pm for the International Yoga Day, and with your double light form, serve the world by giving it sakaash of peace and power. Throughout the day, stay in the cave of introversion and perform actions as a karma yogi.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 19 MAY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 19 May 2019

To Read Murli 18 May 2019 :- Click Here
19-05-19
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 28-11-84 मधुबन

संकल्प को सफल बनाने का सहज साधन

आज विश्व रचता, विश्व कल्याणकारी बाप विश्व की परिक्रमा करने के लिए, विशेष सर्व बच्चों की रेख-देख करने के लिए चारों ओर गये। ज्ञानी तू आत्मा बच्चों को भी देखा। स्नेही सहयोगी बच्चों को भी देखा। भक्त बच्चों को भी देखा, अज्ञानी बच्चों को भी देखा। भिन्न-भिन्न आत्मायें अपनी-अपनी लगन में मगन देखा। कोई कुछ कार्य करने की लगन में मगन और कोई तोड़ने के कार्य में मगन, कोई जोड़ने के कार्य में मगन, लेकिन सभी मगन जरूर हैं। सभी के मन में संकल्प यही रहा कि कुछ मिल जाए, कुछ ले लें, कुछ पा लें, इसी लक्ष्य से हरेक अपने-अपने कार्य में लगा हुआ है। चाहे हद की प्राप्ति है, फिर भी कुछ मिल जाये वा कुछ बन जायें, यही तात और लात सभी तरफ देखी। इसी के बीच ब्राह्मण बच्चों को विशेष देखा। देश में चाहे विदेश में सभी बच्चों में यही एक संकल्प देखा कि अब कुछ कर लें। बेहद के कार्य में कुछ विशेषता करके दिखायें। अपने में भी कोई विशेषता धारण कर विशेष आत्मा बन जायें। ऐसा उमंग मैजारटी बच्चों में देखा। उमंग-उत्साह का बीज स्वयं के पुरूषार्थ से, साथ-साथ समय के वातावरण से सबके अन्दर प्रत्यक्ष रूप में देखा। इसी उमंग के बीज को बार-बार निरन्तर बनाने के अटेन्शन देने का पानी और चेकिंग अर्थात् सदा वृद्धि को पाने की विधि रूपी धूप देते रहें – इसमें नम्बरवार हो जाते हैं। बीज बोना सभी को आता है लेकिन पालना कर फल स्वरूप बनाना, इसमें अन्तर हो जाता है।

बापदादा अमृत वेले से सारे दिन तक बच्चों का यह खेल कहो वा लगन का पुरूषार्थ कहो, रोज़ देखते हैं। हर एक बहुत अच्छे ते अच्छे स्व प्रति वा सेवा के प्रति उमंगों के संकल्प करते कि अभी से यह करेंगे, ऐसे करेंगे, अवश्य करेंगे। करके ही दिखायेंगे-ऐसे श्रेष्ठ संकल्प के बीज बोते रहते हैं। बापदादा से रूह-रूहाण में भी बहुत मीठी-मीठी बातें करते हैं। लेकिन जब उस संकल्प को अर्थात् बीज को प्रैक्टिकल में लाने की पालना करते तो क्या होता? कोई न कोई बातों में वृद्धि की विधि में वा फलस्वरूप बनाने की विशेषता में नम्बरवार यथा शक्ति बन जाते हैं। किसी भी संकल्प रूपी बीज को फलीभूत बनाने का सहज साधन एक ही है, वह है-“सदा बीज रूप बाप से हर समय सर्व शक्तियों का बल उस बीज में भरते रहना”। बीज रूप द्वारा आपके संकल्प रूपी बीज सहज और स्वत: वृद्धि को पाते फलीभूत हो जायेंगे। लेकिन बीज रूप से निरन्तर कनेक्शन न होने के कारण और आत्माओं को वा साधनों को वृद्धि की विधि बना देते हैं। इस कारण ऐसे करें वैसे करें, इस जैसा करें, इस विस्तार में समय और मेहनत ज्यादा लगाते हैं क्योंकि किसी भी आत्मा और साधन को अपना आधार बना लेते हैं। सागर और सूर्य से पानी और धूप मिलने के बजाए कितने भी साधनों के पानी से आत्माओं को आधार समझ सकाश देने से बीज फलीभूत हो नहीं सकता, इसलिए मेहनत करने के बाद, समय लगाने के बाद जब प्रत्यक्ष फल की प्राप्ति नहीं होती तो चलते-चलते उत्साह कम हो जाता और स्वयं से वा साथियों से वा सेवा से निराश हो जाते हैं। कभी खुशी, कभी उदासी दोनों लहरें ब्राह्मण जीवन के नांव को कभी हिलाती कभी चलाती। आजकल कई बच्चों के जीवन की गति विधि यह दिखाई देती है। चल भी रहे हैं, कार्य कर भी रहे हैं लेकिन जैसा होना चाहिए वैसा अनुभव नहीं करते हैं इसलिए खुशी है लेकिन खुशी में नाचते रहें, वह नहीं है। चल रहे हैं लेकिन तीव्रगति की चाल नहीं है। सन्तुष्ट भी हैं कि श्रेष्ठ जीवन वाले बन गये, बाप के बन गये, सेवाधारी बन गये, दुख: दर्द की दुनिया से किनारे हो गये। लेकिन सन्तुष्टता के बीच कभी कभी असन्तुष्टता की लहर न चाहते, न समझते भी आ जाती है, क्योंकि ज्ञान सहज है, याद भी सहज है लेकिन सम्बन्ध और सम्पर्क में न्यारे और प्यारे बन कर प्रीत निभाना इसमें कहाँ सहज, कहाँ मुश्किल बन जाता।

ब्राह्मण परिवार और सेवा की प्रवृत्ति, इसको कहा जाता है सम्बन्ध सम्पर्क। इसमें किसी न किसी बात से जैसा अनुभव होना चाहिए वैसा नहीं करते। इस कारण दोनों लहरें चलती हैं। अभी समय की समीपता के कारण पुरूषार्थ की यह रफ्तार समय प्रमाण सम्पूर्ण मंजिल पर पहुँचा नहीं सकेगी। अभी समय है विघ्न विनाशक बन विश्व के विघ्नों के बीच दु:खी आत्माओं को सुख चैन की अनुभूति कराना। बहुत काल से निर्विघ्न स्थिति वाला ही विघ्न विनाशक का कार्य कर सकता है। अभी तक अपने जीवन में आये हुए विघ्नों को मिटाने में बिजी रहेंगे, उसमें ही शक्ति लगायेंगे तो दूसरों को शक्ति देने के निमित्त कैसे बन सकेंगे। निर्विघ्न बन शक्तियों का स्टाक जमा करो-तब शक्ति रूप बन विघ्न-विनाशक का कार्य कर सकेंगे। समझा!

विशेष दो बातें देखी। अज्ञानी बच्चे भारत में सीट लेने में वा सीट दिलाने में लगे हुए हैं। दिन रात स्वप्न में भी सीट ही नजर आती और ब्राह्मण बच्चे सेट होने में लगे हुए हैं। सीट मिली हुई है लेकिन सेट हो रहे हैं। विदेश में अपने ही बनाये हुए विनाशकारी शक्ति से बचने के साधन ढूँढने में लगे हुए हैं। मैजारटी की जीवन, जीवन नहीं लेकिन क्वेश्चन मार्क बन गई है। अज्ञानी बचाव में लगे हुए हैं और ज्ञानी प्रत्यक्षता का झण्डा लहराने में लगे हुए हैं। यह है विश्व का हाल-चाल। अब परेशानियों से बचाओ। भिन्न-भिन्न परेशानियों में भटकती हुई आत्माओं को शान्ति का ठिकाना दो। अच्छा-

सदा सम्पन्न स्थिति की सीट पर सेट रहने वाले, स्व के और विश्व के विघ्न-विनाशक, बीजरूप बाप के सम्बन्ध से हर श्रेष्ठ संकल्प रूपी बीज को फलीभूत बनाए प्रत्यक्ष फल खाने वाले, सदा सन्तुष्ट रहने वाले, सन्तुष्टमणी बच्चों को बाप-दादा का याद-प्यार और नमस्ते।“

हॉस्टेल की कुमारियों से बापदादा की मुलाकात

अपने भाग्य को देख हर्षित रहती हो ना? उल्टे रास्ते पर जाने से बच गई। गँवाने के बजाए कमाने वाली जीवन बना दी। लौकिक जीवन में बिना ज्ञान के गँवाना ही गँवाना है और ज्ञानी जीवन में हर सेकण्ड कमाई ही कमाई है। वैसे तकदीरवान सभी ब्राह्मण हैं लेकिन फिर भी कुमारियाँ हैं डबल तकदीरवान। और कुमारी जीवन में ब्रह्माकुमारी बनना, ब्राह्मण बनना यह बहुत महान है। कम बात नहीं है। बहुत बड़ी बात है। ऐसे नशा रहता है क्या बन गई। साधारण कुमारी से शक्ति रूप हो गई। माया का संघार करने वाली शक्तियाँ हो ना! माया से घबराने वाली नहीं, संघार करने वाली। कमजोर नहीं, बहादुर। कभी छोटी मोटी बात पर घबराती तो नहीं हो? सदा श्रेष्ठ प्राप्ति को याद रखेंगी तो छोटी-छोटी बातें कुछ नहीं लगेंगी। अभी पूरा जीवन का सौदा किया या जब तक होस्टल में है तब तक का सौदा है? कभी भी कोई श्रेष्ठ जीवन से साधारण जीवन में समझते हुए जा नहीं सकते। अगर कोई लखपति हो उसको कहो गरीब बनो, तो बनेगा? सरकमस्टाँस के कारण कोई बन भी जाता तो भी अच्छा नहीं लगता। तो यह जीवन है स्वराज्य अधिकारी जीवन। उससे साधारण जीवन में जा नहीं सकते। तो अभी समझदार बनकर अनुभव कर रही हो या एक दो के संग में चल रही हो? अपनी बुद्धि का फैसला किया है? अपने विवेक की जजमेन्ट से यह जीवन बनाई है ना! या माँ बाप ने कहा तो चली आई? अच्छा!

(2) कुमारियों ने अपने आपको आफर किया? जहाँ भी सेवा में भेजें वहाँ जायेंगी? पक्का सौदा किया है या कच्चा? पक्का सौदा है तो जहाँ बिठाओ, जो कराओ….ऐसे तैयार हो? अगर कोई भी बन्धन है तो पक्का सौदा नहीं। अगर खुद तैयार हो तो कोई रोक नहीं सकता। बकरी को बाँध कर बिठाते हैं, शेर को कोई बाँध नहीं सकता। तो शेरणी किसके बंधन में कैसे आ सकती। वह जंगल में रहते भी स्वतंत्र है। तो कौन हो? शेरणी? शेरणी माना मैदान में आने वाली। जब एक बल एक भरोसा है तो हिम्मत बच्चों की, मदद बाप की। कैसा भी कड़ा बन्धन है लेकिन हिम्मत के आधार पर वह कड़ा बन्धन भी सहज छूट जाता है। जैसे दिखाते हैं जेल के ताले भी खुल गये तो आपके बन्धन भी खुल जायेंगे। तो ऐसे बनो। अगर थोड़ा सा भी बन्धन है तो उसको योग अग्नि से भस्म कर दो। भस्म हो जायेगा तो नामनिशान गुम। तोड़ने से फिर भी गाँठ लगा सकते, इसलिए तोड़ो नहीं लेकिन भस्म करो तो सदा के लिए मुक्त हो जायेंगे। अच्छा-

चुने हुए अव्यक्त महावाक्य -सरलचित बनो तो सफलता मिलती रहेगी

ब्राह्मणों का मुख्य संस्कार है – सर्वस्व त्यागी। त्याग से ही जीवन में सरलता और सहनशीलता का गुण सहज आ जाता है। जिसमें सरलता, सहनशीलता होगी वह दूसरों को भी आकर्षण जरूर करेंगे और एक दो के स्नेही बन सकेंगे। जो स्वयं सरलचित्त रहते हैं वह दूसरों को भी सरलचित्त बना सकते हैं। सरलचित्त माना जो बात सुनी, देखी, की, वह सारयुक्त हो और सार को ही उठाये, और जो बात वा कर्म स्वयं करे उसमें भी सार भरा हुआ हो।

जो सरल पुरुषार्थी होता है वह औरों को भी सरल पुरुषार्थी बना देता है। सरल पुरुषार्थी सब बातों में आलराउन्डर होगा। उसमें कोई भी बात की कमी दिखाई नहीं देगी। कोई भी बात में हिम्मत कम नहीं होगी। मुख से ऐसा बोल नहीं निकलेगा कि यह अभी नहीं कर सकते हैं। इसी एक सरलता के गुण से वह सब बातों में सैम्पुल बन पास विद आनर बन जाता है। जैसे साकार बाप को देखा – जितना ही नॉलेजफुल उतना ही सरल स्वभाव। जिसको कहते हैं बचपन के संस्कार। बुजुर्ग का बुजुर्ग, बचपन का बचपन। ऐसे फालो फादर कर सरलचित बनो।

दूसरों के संस्कार को सरल बनाने का साधन है – हाँ जी कहना। जब आप यहाँ हाँ जी, हाँ जी करेंगे तब वहाँ सतयुग में आपकी प्रजा इतना हाँ जी, हाँ जी करेगी। अगर यहाँ ही ना जी ना जी करेंगे तो वहाँ भी प्रजा दूर से ही प्रणाम करेगी। तो ना शब्द को निकाल देना है। कोई भी बात हो पहले हाँ जी। इससे संस्कारों में सरलता आ जायेगी। सफलतामूर्त्त बनने के लिए मुख्य गुण सरलता और सहनशीलता का धारण करो। जैसे कोई धैर्यता वाला मनुष्य सोच समझकर कार्य करता है तो सफलता प्राप्त होती है। ऐसे ही जो सरल स्वभाव वाले सहनशील होते हैं वह अपनी सहनशीलता की शक्ति से कैसे भी कठोर संस्कार वाले को शीतल बना देते हैं, कठिन कार्य को सहज कर लेते हैं।

आपके यादगार देवताओं के चित्र भी जो बनाते हैं, उनकी सूरत में सरलता ज़रूर दिखाते हैं। यह विशेष गुण दिखाते हैं। फीचर्स में सरलता जिसको आप भोलापन कहते हो। जितना जो सहज पुरुषार्थी होगा वह मन्सा में भी सरल, वाचा में भी सरल, कर्म में भी सरल होगा, उसको ही फरिश्ता कहते हैं। सरलता के गुण की धारणा के साथ समाने की, सहन करने की शक्ति भी जरूर चाहिए। अगर समाने और सहन करने की शक्ति नहीं तो सरलता बहुत भोला रुप धारण कर लेती है और कहां-कहां भोलापन बहुत भारी नुकसान कर देता है। तो ऐसा सरलचित नहीं बनना है।

सरलता के गुण के कारण बाप को भी भोलानाथ कहते हो, लेकिन वह भोलानाथ के साथ-साथ आलमाइटी अथॉरिटी भी है। सिर्फ भोलानाथ नहीं है। तो आप भी सरलता के गुण को धारण करो लेकिन अपने शक्ति स्वरूप को भी सदा याद रखो। अगर शक्ति रूप भूलकर सिर्फ भोले बन जाते हो तो माया का गोला लग जाता है, इसलिए ऐसा शक्ति स्वरुप बनो जो माया सामना करने के पहले ही नमस्कार कर ले। बहुत सावधान, खबरदार-होशियार रहना है। ब्राह्मण जीवन में ऐसे विशेषता सम्पन्न बनो जो आपका स्वभाव सदा सरल हो, बोल भी सरल हों, हर कर्म भी सरलता सम्पन्न हो। सदा एक की मत पर, एक से सर्व सम्बन्ध, एक से सर्व प्राप्ति करते हुए सदा एकरस रहने के सहज अभ्यासी बनो। सदा खुश रहो और खुशी का खजाना बांटो।

सरलता के गुण को जीवन में लाने के लिए वर्तमान समय सिर्फ एक बात ध्यान पर जरूर रखनी है – आपकी स्थिति स्तुति के आधार पर न हो। यदि स्तुति के आधार पर स्थिति है तो जो कर्म करते हो उसके फल की इच्छा वा लोभ रहता है। अगर स्तुति होती है तो स्थिति भी रहती है। अगर निंदा होती है तो निधन के बन जाते हो। अपनी स्टेज को छोड़ देते हैं और धनी को भूल जाते हो। तो यह कभी नहीं सोचना कि हमारी स्तुति हो। स्तुति के आधार पर स्थिति नहीं रखना, तब कहेंगे सरलचित। सरलता को अपना निजी स्वभाव बनाने से समेटने की शक्ति भी सहज आ जाती है। जो सरल स्वभाव वाला होगा वह सभी का स्नेही होगा उनको सभी द्वारा सहयोग भी अवश्य प्राप्त होगा इसलिए वह सभी बातों का सामना वा समेटना सहज ही कर सकता है। जो जितना सरल स्वभाव वाला होगा उतना माया सामना भी कम करेगी। वह सभी का प्रिय बन जाता है।

सरल स्वभाव वाले के व्यर्थ संकल्प अधिक नहीं चलते। उनका समय भी व्यर्थ नहीं जाता। व्यर्थ संकल्प न चलने के कारण उनकी बुद्धि विशाल और दूरांदेशी रहती है इसलिए उनके आगे कोई भी समस्या सामना नहीं कर सकती। जितनी सरलता होगी उतनी स्वच्छता भी होगी। स्वच्छता सभी को अपने तरफ आकर्षित करती है। स्वच्छता अर्थात् सच्चाई और सफाई वह तब आयेगी जब अपने स्वभाव को सरल बनायेंगे। सरल स्वभाव वाला बहुरूपी बन सकता है। कोमल चीज़ को जैसे भी रूप में लाओ आ सकती है। तो अब गोल्ड बने हो लेकिन गोल्ड को अब अग्नि में गलाओ तो मोल्ड भी हो सके। इस कमी के कारण सर्विस की सफलता में कमी पड़ती है। अपने वा दूसरे की बीती को नहीं देखो तो सरलचित हो जायेंगे। जो सरलचित होते हैं उनमें मधुरता का गुण प्रत्यक्ष दिखाई देता है। उनके नयनों से, मुख से, चलन से मधुरता प्रत्यक्ष रूप में देखने में आती है। जो जितना स्पष्ट होता है वह उतना ही सरल और श्रेष्ठ होता है। स्पष्टता श्रेष्ठता के नजदीक है और जितनी स्पष्टता होती है उतनी सफलता भी होती है और समानता भी आती जाती है। स्पष्टता, सरलता और श्रेष्ठता बाप समान बना देती है।

वरदान:- किसी भी परिस्थिति में फुलस्टॉप लगाकर स्वयं को परिवर्तन करने वाले सर्व की दुआओं के पात्र भव 
किसी भी परिस्थिति में फुलस्टाप तब लगा सकते हैं जब बिन्दु स्वरूप बाप और बिन्दू स्वरूप आत्मा दोनों की स्मृति हो। कन्ट्रोलिंग पावर हो। जो बच्चे किसी भी परिस्थिति में स्वयं को परिवर्तन कर फुलस्टॉप लगाने में स्वयं को पहले आफर करते हैं, वह दुआओं के पात्र बन जाते हैं। उन्हें स्वयं को स्वयं भी दुआयें अर्थात् खुशी मिलती है, बाप द्वारा और ब्राह्मण परिवार द्वारा भी दुआयें मिलती हैं।
स्लोगन:- जो संकल्प करते हो उसे बीच-बीच में दृढ़ता का ठप्पा लगाओ तो विजयी बन जायेंगे।

 

सूचना: आज मास का तीसरा रविवार है, सभी संगठित रूप में सायं 6.30 से 7.30 बजे तक अन्तर्राष्ट्रीय योग में सम्मिलित होकर अपने डबल लाइट स्वरूप द्वारा पूरे विश्व को शान्ति और शक्ति की सकाश देने की सेवा करें। सारा दिन अन्तर्मुखता की गुफा में रह कर्मयोगी बनकर कर्म करें।

Font Resize