19 June ki murli

TODAY MURLI 19 JUNE 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 19 June 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 18 June 2019 :- Click Here

19/06/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence:Sweet children, you have to separate from your bodies and go to the Father. You will not take your bodies with you. Therefore, forget bodies and see souls.
Question:Why do you children make effort to increase your lifespan with the power of yoga?
Answer:Because your hearts’ desire is to learn everything from the Father in this birth. You want to hear everything from the Father and this is why you make effort to increase your lifespan with the power of yoga. It is only now that you receive love from the Father. You cannot receive such love throughout the whole cycle. You would say of those who have shed their bodies and departed that that was in the drama, that their parts were only that much.

Om shanti. You children have been going to other spiritual gatherings for birth after birth and have also come here. In fact, this too is called a spiritual gathering (satsang). The company of the Truth takes you across. It enters the children’s hearts that we previously used to go to spiritual gatherings on the path of devotion and now that we are sitting here we feel there is the difference of day and night. Here, you first of all receive the Father’s love and the Father receives the love of you children. Now, in this birth, you are changing. You children have now understood that you are souls, not bodies. The body would not say, “This is my soul.” The soul can say, “This is my body.” You children understand that you had been adopting great souls, sages and holy men for birth after birth. Nowadays, they have a fashion for different Babas such as “Sai Baba”, “Mehar Baba”. All of them are also physical. There cannot be any happiness through physical love. The love you children have is spiritual. There is the difference of day and night. Here, you receive understanding whereas there you are completely senseless. You now understand that Baba comes and teaches you. He is everyone’s Father. All of you males and females consider yourselves to be souls. Baba calls you: O children! Children would also give a response. This is the meeting of the Father with the children. You children know that this meeting of the Father and the children, of souls and the Supreme Soul, only takes place once. Children continue to say, “Baba, Baba”. The word “Baba” is very sweet. By saying “Baba”, you remember your inheritance. You are no longer small. Children understand who their father is very quickly. They also understand what inheritance they will receive from their father. Little children cannot understand that. Here, you know that you have come to Baba. The Father says: “O children!” and all the children are included in that. All souls come here from the home to play their parts. You have it in your intellects who comes at what time to play their parts. They all come from their own different sections. Then, at the end, they will all go back into their own sections. All of this is fixed in the drama. The Father doesn’t send anyone down; it is automatically created in the drama. Each one continues to come down into their own religion. If the Buddhist religion had not yet been established, no one of that religion would come down. At first, it is only those of the sun and moon dynasties who come down. Those who study very well with the Father are the ones who come, numberwise, into the sun and moon dynasties and adopt bodies. There is no question of vice there. A soul comes and enters a womb through the power of yoga. From this you would understand that you, the soul, will go and enter a body. Old people understand: Our souls will go and take other bodies through the power of yoga. I, the soul, will now take rebirth. A father also understands: A child has come to me. The soul of the child is coming and they have a vision of that. The soul understands that he will go and enter another body. These thoughts arise. There will definitely be laws there regarding the age that they have a child. Everything there works on a very regular basis. You will know all about that as you progress further; you will know everything. There, it is not like it is here where children of 15 to 20 years of age give birth to children. No, there, the lifespan is 150 years, so they have children when they are just under half way through their lifespan. They have children at that time because the lifespan there is long. They have only one son anyway, and then they have one daughter; that is the law. First the soul of the son comes and then the soul of the daughter comes. Reason says that the son has to come first. First the male and then the female who would come eight to ten years later. As you children progress further, you will have visions of everything. The Father sits here and explains to you what all the systems and customs of the new world will be. It is only the Father who establishes the new world. He will definitely continue to tell you about the customs and systems. As you progress further, He will tell you many things and you will then continue have visions. How children are born there is not a new thing. You are going to such a place where you have to go every cycle. Paradise has now come close. You have now reached very close. The stronger you become in knowledge and yoga, the more closely you will see everything. You have played those parts many times. You are now receiving understanding which you will take back with you. You will know everything about what systems and customs there will be. In the beginning you had visions of everything. At that time, you were still studying Alpha, beta… At the end, too, you will surely have visions. The Father sits here and tells you about all of that. It is here that you have the desire to see all of that. You feel that you must not shed your bodies yet, and that you want to go having seen everything. For this, in order to increase your lifespan, you need to have the power of yoga so that you can hear everything from the Father and also see everything. You must not worry about those who have already gone; that was in their parts in the drama. It was not in their fortune to claim a lot of love from the Father, because the more serviceable you become, the more you are loved by the Father. The more service you do and the more you remember the Father, the firmer that remembrance becomes. You will enjoy yourselves a great deal. You have now become God’s children. The Father says: You souls were with Me. People on the path of devotion, do many things in order to attain liberation. They don’t know about liberation-in-life. This knowledge is very lovely. You have a lot of love. The Father is the Father, the Teacher and also the Satguru. He is the true Supreme Baba who sends us into the land of happiness for 21 births. It is souls that become unhappy. It is souls that experience happiness and sorrow. It is said: Sinful soul and charitable soul. The Father has now come to liberate us from all types of sorrow. You children now have to go into the unlimited where everyone will be happy; the whole world will become happy. You have now understood everyone’s part in the drama. You remain so happy that Baba has come to take you to heaven. He will take all of us souls to heaven. The Father gives you patience: Sweetest children, I have come to take you away from all types of sorrow. So, you should have so much love for such a Father. All your relationships have caused you sorrow. Children here always cause sorrow. You became unhappy and have continued to listen to things of unhappiness. The Father is now explaining everything to you. He has explained to you many times before and made you into the rulers of the globe. So, you should have so much love for the Father who makes you into the masters of such a heaven. You only remember the one Father. You don’t have a relationship with anyone except the one Father. Everything is explained to souls. We are children of the Supreme Father. Just as we have now found the path, so we have to show others this path of happiness. You receive happiness, not just for half the cycle, but for three-quarters of the cycle. Some surrender themselves to you because you give them the Father’s message and remove their sorrow. You understand that even this one (Brahma) receives knowledge from the Supreme Father. He then gives us the message. We then give the message to others. He gives the Father’s introduction and continues to awaken all the children from their sleep of ignorance. Devotion is called ignorance. Knowledge and devotion are separate. The Father, the Ocean of Knowledge, is now teaching you children knowledge. It enters your hearts that Baba comes and awakens you every 5000 years. There is just a little oil left in our lamps. Therefore, the Father now pours in the oil of knowledge and ignites the lamps. When you remember the Father, the lamp of the soul ignites. The rust that is on souls will be removed by them having remembrance of the Father. It is in this that the war with Maya continues. Maya repeatedly makes you forget, so that, instead of the rust being removed, more rust accumulates on the soul. In fact, even more rust accumulates than was removed. The Father says: Children, remember Me and the rust on you will be removed. This requires effort. Let there be no attraction to bodies. Become soul conscious! We are souls and we will not go to the Father with our bodies. We have to go to Him having separated from our bodies. By seeing souls, rust will be removed and by seeing bodies, rust will accumulate. Sometimes it is removed and sometimes it accumulates; this continues all the time. Sometimes you go up and sometimes you come down. This is a very delicate path. You will go through all of that and reach your karmateet stage at the end. The main thing is that it is the eyes that deceive you in everything. Therefore, do not look at bodies. Our intellects are connected to the land of peace and the land of happiness and we also have to imbibe divine virtues. We also have to eat pure food. The food of the deities is pure. The word “Vaishnavs” has emerged from the word “Vishnu”. Deities never eat dirty, impure food. There is the temple to Vishnu, whom they also call Nar-Narayan (ordinary human and Narayan). Lakshmi and Narayan are corporeal beings. They shouldn’t have four arms. However, on the path of devotion, they have been given four arms. That is called unlimited ignorance. They don’t understand that there cannot be a human being with four arms. In the golden age, there are human beings with two arms. Even Brahma has two arms. They have put the daughter Saraswati with Brahma and shown her with four arms. Saraswati is not Brahma’s wife. She is the daughter of Prajapita Brahma. The greater the number of adoptedchildren, the more the number of his arms increases. They only show Brahma with 108 arms; they would not say this of Vishnu or Shankar. Brahma has many arms. On the path of devotion, they have no understanding. The Father comes and explains to you children. You say: Baba has come and made us sensible. People say that they are devotees of Shiva. Achcha, what do you consider Shiva to be? You now understand that Shiv Baba is the Father of all souls. That is why He is worshipped. The Father says: The main thing is constantly to remember Me alone. You called out: O Purifier, come and purify us! Everyone continues to call out: O Purifier, Rama who belongs to Sita. You too used to sing this. Baba did not know that the Father would come and enter him. It was such a wonder that he never even thought about it before. At first, he was amazed and wondered what was happening to him. “When I looked at someone, that one would get attracted – What is happening?” Shiv Baba was pulling him. Anyone who sat in front of him would go into trance. He was amazed. “What is all of this?” Solitude was needed to understand all of these things. That was when he began to have disinterest. “Where should I go? OK, I am going to go to Benares.” This was the pull of that One who was making him do everything. He left such a big business and went away. Those poor helpless people did not know why he went to Benares. He went and sat in the garden there. He would take a pencil in his hand and draw circles on the walls. “I couldn’t understand anything of what Baba was making me do. When I went to sleep at night, I would feel that I had flown away somewhere. Then I would come down again. I didn’t know at all what was happening”. In the beginning, there were so many visions. Daughters would go into trance while just sitting there. You saw a lot then. You would say: You haven’t seen what we have seen. At the end too, Baba will give many visions because you will continue to come close. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Remove everyone’s sorrow by giving them the Father’s message. Show everyone the path to happiness. Come out of the limited and go into the unlimited.
  2. In order to have visions of everything at the end and receive the Father’s loving sustenance, become strong in knowledge and yoga. Do not worry about others, but increase your lifespan with the power of yoga.
Blessing:May you be co-operative with everyone and become a practical sample the same as Father Brahma who put his aim into a practical form.
Just as Father Brahma made himself an instrument, an example, and always put his aim into a practical form: Whoever takes the initiative is Arjuna. He became number one through this. Follow the Father in the same way. Always be an image of virtues in what you do in your life. Be a practical sample and with your co-operation enable souls to imbibe virtues easily. This is known as the donation of virtues. To donate means to give your co-operation. Now, any soul wants to see some practical proof instead of just hearing about everything. So, first make yourself an image of virtues.
Slogan:Those who dispel the darkness of everyone’s disappointments are lamps of knowledge.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 19 JUNE 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 19 June 2019

To Read Murli 18 June 2019 :- Click Here
19-06-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम्हें शरीर से अलग होकर बाप के पास जाना है, तुम शरीर को साथ नहीं ले जायेंगे, इसलिए शरीर को भूल आत्मा को देखो”
प्रश्नः-तुम बच्चे अपनी आयु को योगबल से बढ़ाने का पुरूषार्थ क्यों करते हो?
उत्तर:-क्योंकि तुम्हारी दिल होती है कि हम बाप द्वारा सब कुछ इस जन्म में जान जायें। बाप द्वारा सब कुछ सुन लें, इसलिए तुम योगबल से अपनी आयु को बढ़ाने का पुरूषार्थ करते हो। अभी ही तुम्हें बाप से प्यार मिलता है। ऐसा प्यार फिर सारे कल्प में नहीं मिल सकता। बाकी जो शरीर छोड़कर चले गये, उनके लिए कहेंगे ड्रामा। उनका इतना ही पार्ट था।

ओम् शान्ति। बच्चे जन्म-जन्मान्तर और सतसंगों में गये हैं और यहाँ भी आये हैं। वास्तव में इसको भी सतसंग कहा जाता है। सत का संग तारे। बच्चों के दिल में आता है – हम पहले भक्ति मार्ग के सतसंगों में जाते थे और अभी यहाँ बैठे हैं। रात-दिन का फ़र्क भासता है। यहाँ पहले-पहले तो बाप का प्यार मिलता है। फिर बाप को बच्चों का प्यार मिलता है। अभी इस जन्म में तुम्हारी चेंज हो रही है। तुम बच्चे समझ गये हो हम आत्मा हैं, न कि शरीर। शरीर नहीं कहेगा कि हमारी आत्मा। आत्मा कह सकती है, हमारा शरीर। अब बच्चे समझते हैं – जन्म-जन्मान्तर तो वह साधू, सन्त, महात्मा आदि करते आये। आजकल फिर फैशन पड़ा है – सांई बाबा, मेहर बाबा…….. वह भी सब जिस्मानी हो गये। जिस्मानी प्यार में सुख तो होता ही नहीं है। अभी तुम बच्चों का है रूहानी प्यार। रात-दिन का फ़र्क है। यहाँ तुमको समझ मिलती है, वहाँ तो बिल्कुल बेसमझ हैं। तुम अभी समझते हो बाबा आकरके हमको पढ़ाते हैं। वह सबका बाप है। मेल तथा फीमेल सब अपने को आत्मा समझते हैं। बाबा बुलाते भी हैं – हे बच्चों। बच्चे भी रेसपॉन्स करेंगे। यह है बाप और बच्चों का मेला। बच्चे जानते हैं यह बाप और बच्चों का, आत्मा और परमात्मा का मेला एक ही बार होता है। बच्चे बाबा-बाबा कहते रहेंगे। ‘बाबा’ अक्षर बहुत मीठा है। बाबा कहने से ही वर्सा याद आयेगा। तुम छोटे तो नहीं हो। बाप की समझ बच्चे को जल्दी पड़ती है। बाबा से क्या वर्सा मिलता है। वह छोटा बच्चा तो समझ न सके। यहाँ तुम जानते हो कि हम बाबा के पास आये हैं। बाप कहते हैं हे बच्चों, तो इसमें सब बच्चे आ गये। सब आत्मायें घर से यहाँ आती हैं पार्ट बजाने। कौन कब पार्ट बजाने आते हैं, यह भी बुद्धि में है। सबके सेक्शन अलग-अलग हैं, जहाँ से आते हैं। फिर पिछाड़ी में सब अपने-अपने सेक्शन में जाते हैं। यह भी सब ड्रामा में नूंध है। बाप किसको भेजते नहीं हैं। ऑटोमेटिकली यह ड्रामा बना हुआ है। हर एक अपने-अपने धर्म में आते रहते हैं। बुद्ध का धर्म स्थापन हुआ नहीं है तो कोई उस धर्म का आयेगा नहीं। पहले-पहले सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी ही आते हैं। जो बाप से अच्छी रीति पढ़ते हैं, वही नम्बरवार सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी में शरीर लेते हैं। वहाँ विकार की तो बात नहीं। योगबल से आत्मा आकर गर्भ में प्रवेश करती है। उससे समझेंगे कि मेरी आत्मा इस शरीर में जाकर प्रवेश करेगी। बुढ़े समझते हैं – हमारी आत्मा योगबल से जाकर यह शरीर लेगी। मेरी आत्मा अब पुनर्जन्म लेती है। वह बाप भी समझते हैं – हमारे पास बच्चा आया है। बच्चे की आत्मा आ रही है, जिसका साक्षात्कार होता है। वह अपने लिए समझते हैं हम जाकर दूसरे शरीर में प्रवेश करते हैं। यह भी विचार उठते हैं ना। जरूर वहाँ का कायदा होगा। बच्चा किस आयु में आयेगा, वहाँ तो सब रेग्युलर चलता है ना। वह तो आगे चल महसूस होगा। सब मालूम पड़ेगा, ऐसे तो नहीं 15-20 वर्ष में कोई बच्चा होगा, जैसे यहाँ होता है। नहीं, वहाँ आयु 150 वर्ष की होती है, तो बच्चा तब आयेगा जब आधा लाइफ से थोड़ा आगे होंगे, उस समय बच्चा आता है क्योंकि वहाँ आयु बड़ी होती है, एक ही तो बच्चा आना होता है। फिर बच्ची भी आनी है, कायदा होगा। पहले बच्चे की फिर बच्ची की आत्मा आती है। विवेक कहता है पहले बच्चा आना चाहिए। पहले मेल, पीछे फीमेल। 8-10 वर्ष देरी से आयेंगे। आगे चल तुम बच्चों को सब साक्षात्कार होना है। कैसे वहाँ की रस्म-रिवाज है, यह सब बातें नई दुनिया की बाप बैठ समझाते हैं। बाप ही नई दुनिया स्थापन करने वाला है। रस्म-रिवाज भी जरूर सुनाते जायेंगे। आगे चल बहुत सुनायेंगे और तब साक्षात्कार होते रहेंगे। बच्चे कैसे पैदा होंगे, कोई नई बात नहीं।

तुम तो ऐसी जगह जाते हो जहाँ कल्प-कल्प जाना ही पड़ता है। वैकुण्ठ तो अब नज़दीक आ गया है। अब तो बिल्कुल नज़दीक ही आकर पहुँचे हो। हर एक बात तुमको नज़दीक देखने आयेगी, जितना तुम ज्ञान योग में मज़बूत होते जायेंगे। अनेक बार तुमने पार्ट बजाया है। अभी तुमको समझ मिलती है, जो ही तुम साथ ले जायेंगे। वहाँ की क्या रस्म-रिवाज़ होगी, सब जान जायेंगे। शुरू में तुमको सब साक्षात्कार हुए थे। उस समय तो अजुन तुम अल्फ-बे पढ़ते थे। फिर लास्ट में भी जरूर तुमको साक्षात्कार होने चाहिए। सो बाप बैठ सुनाते हैं, वह सब देखने की चाहना तुमको यहाँ होगी। समझेंगे, कहाँ शरीर न छूट जाये, सब कुछ देखकर जायें। इसमें आयु बढ़ाने के लिए चाहिए योगबल। जो बाप से सब कुछ सुनें, सब कुछ देखें। जो पहले से गये उनका चिंतन नहीं करना चाहिए। वह तो ड्रामा का पार्ट है। तकदीर में नहीं था – ज्यादा बाप से लव लेना क्योंकि जितना-जितना तुम सर्विसएबुल बनते हो, तो बाप को बहुत-बहुत प्यारे लगते हो। जितना सर्विस करते हो, जितना बाप को याद करते हो वह याद जमती रहेगी। तुमको बहुत मज़ा आयेगा। अभी तुम बनते हो ईश्वरीय सन्तान। बाप कहते हैं तुम आत्मायें हमारे पास थी ना। भक्ति मार्ग में मुक्ति के लिए बहुत परिश्रम करते हैं। जीवनमुक्ति को तो जानते नहीं। यह बहुत लवली ज्ञान है। बहुत लव रहता है। बाप, बाप भी है, टीचर भी है, सतगुरू भी है। सच्चा-सच्चा सुप्रीम बाबा है जो हमको 21 जन्मों के लिए सुखधाम में ले जाते हैं। आत्मा ही दु:खी होती है। दु:ख-सुख आत्मा ही महसूस करती है। कहा भी जाता है पाप आत्मा, पुण्य आत्मा। अभी बाप आये हैं हमको सभी दु:खों से छुड़ाने। अभी तुम बच्चों को बेहद में जाना है। सब सुखी हो जायेंगे। सारी दुनिया ही सुखी हो जायेगी। ड्रामा में पार्ट है, उनको भी तुम समझ गये हो। तुम कितना खुशी में रहते हो। बाबा आया है हमको स्वर्ग में ले चलने लिए। हम सब आत्माओं को स्वर्ग में ले जायेंगे। बाप धैर्य देते हैं – मीठे-मीठे बच्चों, मैं तुमको सब दु:खों से दूर करने आया हूँ। तो ऐसे बाप में कितना प्यार होना चाहिए। सभी सम्बन्धों ने तुमको दु:ख दिया है। यह है ही दु:खदाई सन्तान। तुम दु:खी होते, दु:ख की ही बातें सुनते आये हो। अब बाप सब बातें समझा रहे हैं। अनेक बार समझाया है और चक्रवर्ती राजा बनाया है। तो जो बाप हमको ऐसा स्वर्ग का मालिक बनाते हैं, उन पर कितना प्यार होना चाहिए। एक बाप को ही तुम याद करते हो। सिवाए बाप के और कोई से सम्बन्ध नहीं। आत्मा को ही समझाया जाता है। हम सुप्रीम बाप के बच्चे हैं। अब जैसे हमको रास्ता मिला है, फिर औरों को भी सुख का रास्ता बताना है। तुमको सिर्फ आधाकल्प के लिए ही नहीं, पौना कल्प के लिए सुख मिलता है। तुम पर भी कई कुर्बान जाते हैं क्योंकि तुम बाप का सन्देश बताकर सब दु:ख दूर कर देते हो।

तुम समझते हो इन्हें भी (ब्रह्मा को भी) यह नॉलेज सुप्रीम बाप से मिलती है। यह फिर हमको पैगाम देते हैं। हम फिर औरों को पैगाम देंगे। बाप का परिचय देते सब बच्चों को जगाते रहते हैं, अज्ञान नींद से। भक्ति को अज्ञान कहा जाता है। ज्ञान और भक्ति अलग-अलग है। ज्ञान सागर बाप अब तुम बच्चों को ज्ञान सिखला रहे हैं। तुम्हारे दिल में आता है, बाबा हर 5 हज़ार वर्ष बाद आकर हमें जगाते हैं। हमारा जो दीवा है, उसमें घृत बाकी थोड़ा जाकर रहा है इसलिए अब फिर ज्ञान घृत डाल दीप जगाते हैं। जब बाप को याद करते हैं तो आत्मा रूपी दीप प्रज्जवलित होता है। आत्मा में जो कट चढ़ी हुई है वह उतरेगी बाप की याद से, इसमें ही माया की लड़ाई चलती है। माया घड़ी-घड़ी भुला देती है और कट उतारने के बजाय चढ़ती जाती है। बल्कि जितना उतरी थी, उससे भी जास्ती चढ़ जाती है। बाप कहते हैं – बच्चे, मुझे याद करो तो कट उतर जायेगी। इसमें मेहनत है। शरीर की कशिश न हो। देही-अभिमानी बनो। हम आत्मा हैं, बाबा के पास शरीर सहित तो जा नहीं सकेंगे। शरीर से अलग होकर ही जाना है। आत्मा को देखने से कट उतरेगी, शरीर को देखने से कट चढ़ती है। कभी चढ़ती, कभी उतरती – यह चलता रहता है। कभी नीचे, कभी ऊपर – बड़ा नाज़ुक रास्ता है। यह होते-होते पिछाड़ी में कर्मातीत अवस्था को पाते हैं। मुख्य हर बात में आंखें ही धोखा देती हैं, इसलिए शरीर को न देखो। हमारी बुद्धि शान्तिधाम-सुखधाम में लटकी हुई है और दैवी गुण भी धारण करने हैं। भोजन भी शुद्ध खाना है। देवताओं का पवित्र भोजन है। वैष्णव अक्षर विष्णु से निकला है। देवता कभी गन्दी चीज़ थोड़ेही खाते होंगे। विष्णु का मन्दिर है, जिसको नर-नारायण भी कहते हैं। अब लक्ष्मी-नारायण तो साकारी ठहरे। उनको 4 भुजा होनी नहीं चाहिए। परन्तु भक्ति मार्ग में उनको भी 4 भुजा दी हैं। इसको कहा जाता है बेहद का अज्ञान। समझते नहीं कि 4 भुजा वाला कोई मनुष्य तो हो नहीं सकता। सतयुग में 2 भुजा वाले होते हैं। ब्रह्मा को भी 2 भुजायें हैं। ब्रह्मा की बेटी सरस्वती, उनको फिर मिलाकर 4 भुजा दी हैं। अब सरस्वती कोई ब्रह्मा की स्त्री नहीं है, यह तो प्रजापिता ब्रह्मा की बेटी है। जितने बच्चे एडाप्ट होते जाते हैं, उतनी इनकी भुजायें बढ़ती जाती हैं। ब्रह्मा की ही 108 भुजायें कहते हैं। विष्णु वा शंकर की नहीं कहेंगे। ब्रह्मा की भुजायें बहुत हैं। भक्ति मार्ग में तो कुछ समझ नहीं। बाप आकर बच्चों को समझाते हैं, तुम कहते हो बाबा ने आकर हमको समझदार बनाया है। मनुष्य कहते हैं हम शिव के भक्त हैं। अच्छा, तुम शिव को क्या समझते हो? अभी तुम समझते हो शिवबाबा सब आत्माओं का बाप है, इसलिए उनकी पूजा करते हैं। मुख्य बात बाप कहते हैं – मामेकम् याद करो। तुमने बुलाया भी है – हे पतित-पावन आकर हमको पावन बनाओ। सभी पुकारते ही रहते हैं – पतित-पावन सीताराम। यह भी गाते रहते थे। बाबा को थोड़ेही मालूम था कि बाप स्वयं आकर मेरे में प्रवेश करेंगे। कितना वन्डर है, कभी ख्याल में भी नहीं था। पहले तो आश्चर्य खाते थे यह क्या होता है! मैं किसको देखता हूँ तो बैठे-बैठे उनको कशिश होती है। यह क्या होता है? शिवबाबा कशिश करते थे। सामने बैठो तो ध्यान में चले जाते थे। आश्चर्य में पड़ गये, यह क्या है! इन बातों को समझने के लिए फिर एकान्त चाहिए। तब वैराग्य आने लगा – कहाँ जाऊं? अच्छा, बनारस जाता हूँ। यह उनकी कशिश थी। जो इसको भी कराते थे, इतनी बड़ी कारोबार सब छोड़कर गया। उन बिचारों को क्या पता कि बनारस में क्यों जाते हैं? फिर वहाँ बगीचे में जाकर ठहरा। वहाँ पैन्सिल हाथ में उठाकर दीवारों पर चक्र बैठ निकालता था। बाबा क्या कराते थे, कुछ पता नहीं पड़ता था। रात को नींद आ जाती थी। समझता था कहाँ उड़ गया हूँ। फिर जैसे नीचे आ जाता था। कुछ पता नहीं क्या हो रहा है। शुरू में कितने साक्षात्कार होते थे। बच्चियां बैठे-बैठे ध्यान में चली जाती थी। तुमने बहुत कुछ देखा है। तुम कहेंगे जो हमने देखा सो तुमने नहीं देखा। फिर पिछाड़ी में भी बाबा बहुत साक्षात्कार करायेंगे क्योंकि नजदीक होते जायेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप का सन्देश सुनाकर सबके दु:ख दूर करने हैं। सबको सुख का रास्ता बताना है। हदों से निकल बेहद में जाना है।

2) अन्त के सब साक्षात्कार करने के लिए तथा बाप के प्यार की पालना लेने के लिए ज्ञान-योग में मजबूत बनना है। दूसरों का चिन्तन न कर योगबल से अपनी आयु बढ़ानी है।

वरदान:-ब्रह्मा बाप समान लक्ष्य को लक्षण में लाने वाले प्रत्यक्ष सेम्पल बन सर्व के सहयोगी भव
जैसे ब्रह्मा बाप ने स्वयं को निमित्त एक्जैम्पुल बनाया, सदा यह लक्ष्य लक्षण में लाया – जो ओटे सो अर्जुन, इसी से नम्बरवन बनें। तो ऐसे फालो फादर करो। कर्म द्वारा सदा स्वयं जीवन में गुण मूर्त बन, प्रत्यक्ष सैम्पुल बन औरों को सहज गुण धारण करने का सहयोग दो – इसको कहते हैं गुणदान। दान का अर्थ ही है सहयोग देना। कोई भी आत्मा अब सुनने के बजाए प्रत्यक्ष प्रमाण देखना चाहती है। तो पहले स्वयं को गुणमूर्त बनाओ।
स्लोगन:-सर्व की निराशाओं का अंधकार दूर करने वाले ही ज्ञान दीपक हैं।

TODAY MURLI 19 JUNE 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 19 June 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 18 June 2018 :- Click Here

19/06/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence:Sweet children, you true spiritual Brahmins are instruments for establishing the new world. Each of you has to sacrifice your horse (body) into this sacrificial fire.
Question:What is the way to make your stage permanently stable and constant?
Answer:Your stage will become permanent when you constantly stay in yoga. Yoga breaks when there is attachment to someone. Therefore, become a conqueror of attachment. Make your intellect pure. Knowledge is imbibed in only a pure intellect. Therefore, the vessel of your intellect should be clean and you will then be able to have yoga with the Father.
Song:This is the season of spring to forget the world. 

Om shanti. Incorporeal God Shiva speaks. No-one, subtle or corporeal, can be called God. You children know that you are now sitting at this confluence age. The Father has explained: At this time you cannot be called the deity community. At this time you are the Brahmin community. There are two types of Brahmins in existence at this time. This is the clan of true Brahmins. Those brahmins don’t know that there are the true Brahmins who are the mouth-born creation of Brahma, so they have to be given this introduction. You should tell anyone that comes: There are many who call themselves brahmins. There are many types of those brahmins. Here, you alone are the true Brahmins, the mouth-born creation of Brahma. You are Brahmins, children of Brahma. You cannot indulge in vice. Young and old, all of you are Brahmins. So, those are physical brahmins, whereas you are true, spiritual Brahmins, the mouth-born creation of Brahma. You know that you true Brahmins are the children of Brahma. The Supreme Father, the Supreme Soul, is teaching His grandchildren through His son. His son is Prajapita Brahma. Although the name ‘Daksh Prajapita’ has been mentioned in the scriptures, there wasn’t anyone called Daksh. This one has been named Daksh Prajapita. It is mentioned in the scriptures that the horse was sacrificed into the sacrificial fire. However, you are the horses. They have sat and written a story. They cannot understand the real meaning. Some of those words are true. For instance, when they perform a play, they have the name ‘The Queen of Jhansi’, but those actors are not real. They sit and make up everything artificially. They make their own people perform the parts of soldiers in an army. Something or other would have happened and they then created plays about that. They appoint new actors to play the part s of whatever happened in the past. You have already learnt your part s. The part s that are fixed in the soul are automatically played. You now understand your part s. You are Brahmins, the mouth-born creation of Brahma. It isn’t that the creation doesn’t exist and that he creates a new one. This too has to be understood. People think that a great annihilation took place and that a child then came floating in the ocean on a pipal leaf. It cannot be like that. However, Baba is making the world new and you children therefore first come in the palace of a womb. It’s as though they are in an ocean of milk. Here, a womb is a jail, an ocean of poison in which a lot of punishment is experienced. The Father sits here and explains this. This is called easy Raja Yoga. You are those who belong to the deity religion. You are making effort to become kings of kings. Lakshmi and Narayan will be the same ones. They are now completing their births. The Father explains: You are the ones who existed in the previous cycle too. When anyone comes, the Father asks him: Have we met before? They say: Yes Baba, we also met 5000 years ago. We have been meeting at the confluence age of every cycle and we will continue to meet. There is no end to this. This is the predestined drama. The Father says: I have to come here to make impure ones pure. It is not My duty to come between the ages. I am called the Purifier. People say: Come and once again make Bharat and the world pure. At the beginning of the world, there was the kingdom of the deities in Bharat. It is said: Long, long ago. However, they don’t understand when that was. The oldest human beings are the deities. They show palaces etc. as things of heaven. The oldest of all are the deities and they had golden palaces studded with diamonds and jewels. It is a matter of 5000 years. Nothing can be older than that. Even Lakshmi and Narayan are not the oldest of all. It is Radhe and Krishna who are the oldest of all. Before Lakshmi and Narayan there are Radhe and Krishna. Krishna is the first child of heaven. His soul is pure and his body is also purenumber one. They are the main prince and princess. The Father says: I am the Traveller. Where am I, the Traveller, from? You know that He is the Traveller from the supreme abode, the land of nirvana. It is the soul that is the traveller. I, the soul, am ever pure. Then, you are My brides. You have become ugly. I am now making you souls beautiful and removing the alloy. The one Traveller is making all of you beautiful. He is such a most beloved Traveller. There is natural beauty in heaven. The deities are so beautiful. These are the old bodies of you Brahmins. You become ugly from beautiful and I, the Traveller, make you beautiful. I enter this old, ugly bride. I enter this one and make him and all of you beautiful. The one Traveller comes and makes so many of you beautiful. You understand the meaning of ‘Traveller’. Only if you continue to follow shrimat will you become beautiful. You souls have become ugly by having alloy mixed into you. Now, how can the alloy be removed? By having yoga with Me, all the alloy will be burnt away in the fire of that yoga. You understand the right things. The Father explains a lot to you but you forget because your yoga is not right. You haven’t become destroyers of attachment. The Father is ever pure; He is the Ocean of Purity. You know that we souls have become iron aged and so we have received false jewellery. This is why you should first of all remove the alloy from the soul. Remember the Father. This is called the fire of yoga. Shiv Baba says: I am ever pure. If it weren’t for Me, who would make you pure? Have the firm faith that you are souls. I, the soul, have the alloy of 84 births mixed in me. I will now become pure by having yoga with Baba. No vices will remain. If some do remain, there will have to be punishment, so why should we not make constant effort now? Your stage has to become such by making effort that no storm of Maya can shake you. Become Achalghar (the home of stability). If you, the soul inside, become mature by having remembrance of Father, you will reach your karmateet stage. The soul won’t then perform any sinful acts and will become pure. This requires effort. The Supreme Father, the Supreme Soul, also has a part. We remember that One. How does He come and teach us? That would be in a practical way. God taught us 5000 years ago. He truly did teach us the ancient Raja Yoga of Bharat. You children know that this is the same ancient Raja Yoga. The Father says: Remember Me. This requires effort. Everything is a matter of remembrance. The Father orders: Remember Me. However, Maya doesn’t allow you to follow His orders; she creates obstacles. The Father says: By remembering Me, you will become as pure as I am, and you will then also become knowledge-full and blissful. You are blissful. You don’t have three feet of land here and the Father is giving you the sovereignty of the whole world. This is why everyone remembers the Father. People retire in order to go beyond sound, that is, they want to go to the land of liberation. No one, except the Father, can give you liberation and liberation-in-life. You first change from shudras into Brahmins through the Father. There is no question of any difficulty. While walking, sitting and moving around, continue to make your own effort. You understand that you will become beautiful if you remember Baba. You souls will become pure. The pure Father comes and shows you methods to become pure. You have to continue to remember the most beloved Father. When a person falls ill, he is told to remember so-and-so. However, he would not be able to remember anyone just like that. You need to have great practice of this, because only then will your final thoughts lead you to your destination. You have to stay in remembrance of the Father. You definitely have to become karmateet. If you burn away your sins with yoga you won’t have to experience punishment. If you don’t stay in yoga, there will be punishment and then you will go to the land of liberation. It is numberwise in this too. So the one Baba is the beautiful Traveller. All souls too are travellers. He comes from so far away to play a part, just as those actorscome from their homes to play their part s. This is the foreign land of Ravan. Ravan has made you impure. I will then make the impure ones pure and take them back with Me. Some gurus have many followers but neither do they take anyone back with them nor are they themselves able to go there. They don’t know the way there. No one can merge into the light. Souls are immortal ; they don’t break into pieces. Bodies die and burn. They even commit suicide of their bodies. When something happens between two people and their desires are not fulfilled, they both drown themselves. They commit suicide and are said to be great sinners. They don’t commit suicide of the soul; it is the body that is destroyed. To the extent that you remember the Father, so you will be able to imbibe. No matter how well someone reads the murli, Maya is such that she can finish that one with just one slap. Her boxing continues. This is a battlefield. Look at what they have shown in the scriptures! There is the difference of day and night. It is said of this time: Knowledge has disappeared, the deity religion has disappeared but the non-living images remain. When you go to a Shiva Temple, you would instantly say: This is Shiv Baba’s temple. When you go to the Brahma Temple, you would say: This one is Dada’s. This is the temple of Jagadamba, Mama. Down below, they are doing the tapasya of Raja Yoga and there is the memorial of Paradise up on the ceiling. Otherwise, where else would it be shown? When a person dies, people say that he has gone to Paradise. So, they have shown Paradise up above. The memorial is accurate according to the drama. Baba and Mama, Kamdhenu, are sitting here. They have then mistaken her for a cow. Fakirs (religious wanderers) take cows around with them. So this one is Kamdhenu (cow) and Kapildev (sage). Kamdhenu used to stay with Kapildev. There are many stories. Shiv Baba says: I am the Traveller. This Brahma (Dada) would not say this. Shiv Baba says: I, the Traveller, am ever pure. This is the impure, vicious world and that is the viceless world. This is the predestined drama. The Father sits here and explains to you. No one in the world knows this. Souls are residents of the incorporeal world. They come here to play their part s. This is the field of action. The supreme abode is not called the field of action. This is called a play. Bharat becomes like a diamond and then worth a shell. There are the clans of Bharat. There are the Brahmin, deity, warrior, merchant and shudra clans. The 84 births are completed within these. Not all religions have 84 births. Baba explains so many things to you sweetest, beloved, long-lost and now-found children. You children know that you have been studying for cycle after cycle. You will be transferred according to the effort you make, just as students are transferred at school. You will go and rule the kingdom, numberwise. Simply belong to the Father and remember the Father. Repeatedly remember the Father. Otherwise, how would your sins be absolved? Repeatedly talk to yourself. I, the soul, am immortal. Baba has given you the order: Remember Me, and your sins will be absolved. If you don’t remember Me, your sins won’t be absolved and you won’t receive a high status. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Burn away the alloy of vices with the fire of yoga and become beautiful. Become pure and give everyone the bliss of purity.
  2. Make yourself into such an Achalghar (home of stability) that you don’t perform any sinful acts. Make your stage mature with the effort of remembrance.
Blessing:May you be a great magician who even binds the One who is free from bondage with the magic of love.
You children are greater magicians than the Father. You have such magic of love that you even bind the One who is free from bondage. Even the Father cannot think of anything except you children. He constantly remembers you children. You call Him to eat with you so many times. When you eat, when you walk, when you sleep, you do it with the Father. When you perform any task, you say: It is Your work, you just inspire us and we will use our hands as instruments. Then, you give the burden of the action to the Father and so you are great magicians, are you not?
Slogan:Those who transform adverse situations with the power of their own original stage can never be distressed.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 19 JUNE 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 19 June 2018

To Read Murli 18 June 2018 :- Click Here
19-06-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम सच्चे-सच्चे रूहानी ब्राह्मण नई दुनिया की स्थापना के निमित्त हो, तुम्हें अपना अश्व (शरीर) इस यज्ञ में स्वाहा करना है”
प्रश्नः-अवस्था को स्थाई (एकरस) अचल बनाने का साधन क्या है?
उत्तर:-अवस्था स्थाई तब बनेगी जब निरन्तर योग में रहेंगे। योग टूटता तब है जब किसी में ममत्व है इसलिए नष्टामोहा बनो। बुद्धि को पवित्र बनाओ। ज्ञान की धारणा भी पवित्र बुद्धि में ही होती है इसलिए बुद्धि रूपी बर्तन स्वच्छ हो, बाप से योग जुटा रहे।
गीत:-यही बहार है…….. 

ओम् शान्ति। निराकार शिव भगवानुवाच। आकार और साकार को भगवान् नहीं कहा जा सकता। अब तुम बच्चे जानते हो हम इस संगम पर बैठे हैं। बाप ने समझाया है – इस समय तुमको दैवी सम्प्रदाय नहीं कह सकते। इस समय तुम ब्राह्मण सम्प्रदाय हो। ब्राह्मण भी इस समय दो प्रकार के हैं। अब यह है सच्चे ब्राह्मणों का कुल। वह ब्राह्मण लोग यह नहीं जानते कि सच्चे ब्राह्मण मुख वंशावली ब्राह्मण भी हैं। तो उन्हों को भी परिचय देना पड़े। अगर कोई आये तो उनसे पूछना चाहिए। ऐसे बहुत हैं जो अपने को ब्राह्मण कहलाते हैं। उन ब्राह्मणों में बहुत प्रकार के होते हैं। यहाँ तुम एक ही ब्रह्मा के मुख वंशावली सच्चे ब्राह्मण हो। ब्रह्मा के बच्चे तुम ब्राह्मण-ब्राह्मणियां हो। विकार में जा नहीं सकते। छोटे-बड़े सब ब्राह्मण ठहरे। तो वह हैं जिस्मानी ब्राह्मण। तुम हो सच्चे रूहानी ब्राह्मण, ब्रह्मा के मुख वंशावली। तुम जानते हो हम सच्चे ब्राह्मण ब्रह्मा की औलाद हैं। परमपिता परमात्मा अपने पोत्रे-पोत्रियों को पढ़ाते हैं पुत्र द्वारा। पुत्र है प्रजापिता ब्रह्मा। भल शास्त्रों में दक्ष प्रजापिता का भी नाम है। अब दक्ष कोई हुआ नहीं है। इनका ही दक्ष प्रजापिता नाम रखा है। शास्त्रों में यह बात है कि अश्व (घोड़ों) को हवन करते थे। अभी अश्व तो तुम हो। उन्हों ने तो कहानी बैठ लिखी है। यथार्थ अर्थ को समझ नहीं सकते। कुछ न कुछ अक्षर आये हुए हैं। जैसे नाटक बनाते हैं। झांसी की रानी नाम तो है परन्तु वह एक्टर्स रीयल तो नहीं हैं। आर्टीफिशयल बैठ बनाते हैं। अपने आदमियों को लश्कर के सिपाही बनाते हैं। कुछ न कुछ है जिसके फिर नाटक बनते हैं। जो पास्ट हो गया है उनके ही फिर नये एक्टर्स बनाकर पार्ट बजवाते हैं। तुम तो पार्ट सीखे हुए ही हो। आटोमेटिकली आत्मा में जो पार्ट नूँधा हुआ है वह प्ले हो रहा है। तुम अपने पार्ट को समझ गये हो। ब्रह्मा मुख वंशावली ब्राह्मण-ब्राह्मणियां हैं। ऐसे नहीं, रचना है ही नहीं, उनको नया बनाते हैं। यह भी समझना है। मनुष्य समझते हैं महाप्रलय हुई, फिर पीपल के पत्ते पर सागर में बच्चा आया। ऐसे तो हो नहीं सकता। बाकी हाँ, बाबा नई सृष्टि रचते हैं तो पहले-पहले बच्चे गर्भ महल में आते हैं। वह जैसे क्षीर-सागर में हैं। यहाँ है गर्भ जेल, विषय सागर। बहुत सजायें खाते हैं। यह बाप बैठ समझाते हैं। इसका नाम ही है सहज राजयोग। तुम हो ही देवी-देवता धर्म वाले। तुम पुरुषार्थ कर राजाओं का राजा बनेंगे। लक्ष्मी-नारायण भी वही होंगे। उनके 84 जन्म अब पूरे हुए। बाप समझाते हैं कल्प पहले भी तुम ही थे। कोई भी आते हैं तो बाप उनसे पूछते हैं – आगे कब मिले हो? कहते हैं – हाँ बाबा, 5 हजार वर्ष पहले भी मिले थे। कल्प-कल्प, कल्प के संगमयुगे मिलते आये हैं। मिलते रहेंगे। एन्ड (अन्त) नहीं होती। यह बना-बनाया ड्रामा है। बाप कहते हैं मुझे भी पतित से पावन बनाने आना पड़ता है। बीच में आने का तो हमारा काम ही नहीं। मेरा नाम ही है पतित-पावन। कहते हैं फिर से भारत को वा सृष्टि को आकर पावन बनाओ। सृष्टि के आदि में भारत में देवी-देवताओं का राज्य था। लांग-लांग एगो…… कहते हैं ना। परन्तु कब? यह समझते नहीं। पुराने ते पुराने मनुष्य हुए देवी-देवतायें। स्वर्ग की चीजें महल माड़ियां आदि दिखाते हैं ना। पुराने ते पुराने देवी-देवतायें थे, जिनके सोने, हीरे, जवाहरों के महल थे। 5000 वर्ष की बात है। इससे पुरानी कोई चीज़ होती ही नहीं। पुराने ते पुराने लक्ष्मी-नारायण भी नहीं, राधे-कृष्ण हैं पुराने ते पुराने। लक्ष्मी-नारायण से भी पहले तो राधे-कृष्ण हैं ना। कृष्ण है स्वर्ग का पहला बच्चा। आत्मा भी प्योर, शरीर भी प्योर नम्बरवन। मुख्य प्रिन्स-प्रिन्सेज हैं ना। बाप कहते हैं मैं एक मुसाफिर हूँ। कहाँ का मुसाफिर? तुम जानते हो परमधाम अथवा निर्वाणधाम का मुसाफिर। मुसाफिर तो आत्मा ही है।

मैं आत्मा एवर प्योर हूँ। फिर तुम हो मेरी सजनियां। तुम काली हो गई हो। अब हम तुम्हारी आत्मा को गोरा बनाते हैं। खाद निकालते हैं। एक मुसाफिर तुम सबको हसीन बनाते हैं। कैसा मोस्ट बिलवेड मुसाफिर है। स्वर्ग में तो नैचुरल शोभा रहती है। कितने खूबसूरत देवतायें हैं। अभी तुम ब्राह्मणों का यह पुराना शरीर है। तुम हसीन से काली बन जाती हो, मैं मुसाफिर तुमको गोरा बनाता हूँ। मैं इस पुरानी काली सजनी में प्रवेश करता हूँ। इसमें आकर इनको और तुम सभी को गोरा बनाता हूँ। एक मुसाफिर आकर कितने को हसीन बनाते हैं। मुसाफिर का अर्थ भी तुम समझते हो। जब तुम श्रीमत पर चलते रहेंगे तब ही हसीन बनेंगे। तुम आत्मा में खाद पड़ने से काले बन गये हो। अब खाद कैसे निकले? मेरे साथ योग लगाने से। उसी योग अग्नि से खाद भस्म हो जायेगी। यथार्थ बातें तुम समझते हो। बाप तुम्हें समझाते बहुत हैं परन्तु तुम भूल जाते हो क्योंकि योग ठीक नहीं है। नष्टोमोहा नहीं बने हो। बाप तो एवर प्योर अथवा पवित्रता का सागर है। तुम जानते हो हम आत्मा ही आइरन एजेड बनी हैं तो जेवर भी झूठा मिला है इसलिए पहले आत्मा की खाद को निकालना चाहिए। बाप को याद करो। इसको योग अग्नि कहा जाता है। शिवबाबा कहते हैं मैं तो एवर प्योर हूँ। मैं नहीं होता तो तुमको प्योर कौन बनाये? अपने को आत्मा पक्का निश्चय करो। हमारी आत्मा में 84 जन्मों में खाद पड़ी है। अभी हम बाबा के साथ योग लगाने से पवित्र हो जायेंगे। कोई विकार नहीं रहेगा। अगर कोई रह गया तो सजा खानी पड़ेगी। तो हम क्यों न निरन्तर पुरुषार्थ करें, मेहनत से अवस्था ऐसी हो जो कभी भी माया का तूफान हिला न सके। अचल घर बन जाओ। आत्मा जो इसके अन्दर है, वह बाप की याद में परिपक्व अवस्था में आ जाए तो फिर कर्मातीत अवस्था आ जायेगी। कोई विकर्म नहीं होगा। आत्मा पवित्र हो जायेगी। मेहनत है ना। परमपिता परमात्मा का भी पार्ट है। हम उनको याद करते हैं। वह कैसे आकर पढ़ाते हैं। सो तो प्रैक्टिकल में होगा ना। भगवान् ने पढ़ाया था 5 हजार वर्ष पहले। बरोबर प्राचीन भारत का राजयोग सिखाया था। बच्चे जानते हैं यह वही प्राचीन राजयोग है। बाप कहते हैं मुझे याद करो इसमें ही मेहनत है। सारी याद की बात है। बाप फ़रमान करते हैं मुझे याद करो। परन्तु माया फ़रमान पर चलने नहीं देती। विघ्न डाल देती है। बाप कहते हैं मुझे याद करने से तुम मेरे जैसे पवित्र बन जायेंगे और फिर नॉलेजफुल, ब्लिसफुल बनते हो। तुम ब्लिस कर रहे हो। तुमको यहाँ तीन पैर पृथ्वी के नहीं मिलते और बाप तुमको सारे विश्व की बादशाही देते हैं इसलिए सब बाप को याद करते हैं। वाणी से परे जाने लिए मनुष्य वानप्रस्थ लेते हैं अर्थात् मुक्तिधाम में जाना चाहते हैं। मुक्ति-जीवन्मुक्ति तो बाप के सिवाए कोई दे नहीं सकते। बाप द्वारा तुम पहले शूद्र से ब्राह्मण बनते हो। तकलीफ की कोई बात नहीं, उठते-बैठते चलते-फिरते अपना पुरुषार्थ करते रहो। तुम समझते हो याद करेंगे तो गोरे बन जायेंगे। तुम्हारी आत्मा पवित्र हो जायेगी। पावन बाप आकर पावन होने की युक्तियां बतलाते हैं। मोस्ट बिलवेड बाप को याद करते रहना है। मनुष्य बीमार पड़ते हैं तो उनको कहते हैं फलाने को याद करो। परन्तु ऐसे थोड़ेही वह याद ठहरेगी। इसमें बड़ा अभ्यास चाहिए, तब ही अन्त मती सो गति होगी। तुमको बाप की याद में रहना है। कर्मातीत बनना ही है। योग से विकर्मों को भस्म करेंगे तो वह सजायें नहीं खायेंगे। योग में नहीं रहेंगे तो सजा खाकर मुक्तिधाम में जायेंगे, इसमें भी नम्बरवार हुआ। तो गोरा मुसाफिर एक बाबा है। मुसाफिर तो सभी आत्मायें भी हैं। कितना दूर से आती हैं पार्ट बजाने। जैसे वह एक्टर्स घर से आते हैं पार्ट बजाने। यह रावण का पराया देश है ना। रावण ने पतित बनाया है। मैं फिर पतित को पावन बनाए साथ ले जाऊंगा। कोई गुरू को अथाह फालोअर्स होते हैं। लेकिन वह तो साथ ले नहीं जाते हैं और न खुद ही जाते हैं। रास्ता ही नहीं जानते। ज्योति ज्योत में तो कोई समाते नहीं। आत्मा इमार्टल है। टुकड़ा-टुकड़ा नहीं होती है। शरीर मरता है, जलता है। आपघात भी करते हैं। एक-दो में कुछ हुआ, आश पूरी न हुई तो दोनों मिलकर डूब मरते हैं, उनको जीव-घाती महापापी कहा जाता है। आत्मघाती नहीं, शरीर का विनाश होता है। तो जितना बाप को याद करेंगे उतना धारणा होगी। भल कोई कितनी भी अच्छी मुरली चलाने वाला हो, माया ऐसी है जो एक थप्पड़ से खलास कर देती है। उनकी बॉक्सिंग चलती रहती है। यह युद्धस्थल है ना। युद्ध का मैदान है। शास्त्रों में तो क्या-क्या बैठ दिखाया है, रात-दिन का फ़र्क है। इस समय के लिए कहा जाता है ज्ञान प्राय: लोप हो गया है। देवी-देवता धर्म प्राय: लोप हो गया है। बाकी जड़ चित्र रहे हैं। तुम शिव के मन्दिर में जायेंगे तो झट कहेंगे यह शिवबाबा का मन्दिर हैं। ब्रह्मा के मन्दिर में जायेंगे तो कहेंगे यह दादा का है। यह जगत अम्बा मम्मा का मन्दिर है। नीचे राजयोग की तपस्या कर रहे हैं और ऊपर वैकुण्ठ का यादगार है। नहीं तो भला कहाँ दिखावें। कोई मरता है तो कहते हैं यह तो वैकुण्ठ गया। तो उन्होंने वैकुण्ठ ऊपर में बना दिया है। यादगार ड्रामा अनुसार पूरा है। बाबा और मम्मा – कामधेनु बैठी है। उन्हों ने फिर गऊ समझ लिया है। गऊ को फ़कीर लोग लेकर निकलते हैं तो यह है कामधेनु और कपिल देव। कपिल देव पास कामधेनु रहती थी। कहानियां तो बहुत हैं।

शिवबाबा कहते हैं – हम मुसाफिर हैं। यह ब्रह्मा (दादा) ऐसे नहीं कहेंगे। शिवबाबा कहते हैं हम मुसाफिर एवर प्योर हैं। यह है अपवित्र विकारी दुनिया। वह है निर्विकारी दुनिया। यह बना-बनाया ड्रामा है। बाप बैठ समझाते हैं। दुनिया में कोई नहीं जानते। आत्मायें हैं निराकारी दुनिया में रहने वाली। यहाँ आती हैं पार्ट बजाने। कर्मक्षेत्र है। परमधाम को कर्मक्षेत्र नहीं कहेंगे। इसको नाटक कहते हैं। भारत हीरे तुल्य और कौड़ी तुल्य बनता है। भारत के ही वर्ण हैं। ब्राह्मण वर्ण, देवता वर्ण, क्षत्रिय वर्ण, वैश्य, शूद्र वर्ण… इनमें ही 84 जन्म पूरे होते हैं। सब धर्मों के 84 जन्म नहीं होते हैं। कितनी बातें मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों को समझाते हैं। बच्चे जानते हैं कल्प-कल्प पढ़ते आये। पुरुषार्थ अनुसार ही ट्रान्सफर होंगे। जैसे स्कूलों में ट्रान्सफर होते हैं ना। तुम भी नम्बरवार जाकर राजाई करते हो। सिर्फ बाप का बन बाप को याद करो। बाप को तो घड़ी-घड़ी याद करो। नहीं तो विकर्म विनाश कैसे होंगे। घड़ी-घड़ी अपने से बातें करनी है। हम आत्मा तो इमार्टल हैं। बाबा ने फरमान किया है मुझे याद करो तो विकर्म विनाश होंगे। याद नहीं करेंगे तो विकर्म विनाश नहीं होंगे। पद भी ऊंच नहीं मिलेगा। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) योग अग्नि से विकर्मों की खाद भस्म कर गोरा बनना है। पवित्र बन सभी पर पवित्रता की ब्लिस करनी है।

2) स्वयं को ऐसा अचलघर बनाना है जो कोई भी विकर्म न हो। याद की मेहनत से अपनी अवस्था परिपक्व बनानी है।

वरदान:-स्नेह के जादू द्वारा निर्बन्धन को भी बंधन में बांधने वाले श्रेष्ठ जादूगर भव
बाप से भी बड़े जादूगर आप बच्चे हो। ऐसा स्नेह का जादू आपके पास है जो निर्बन्धन को भी बंधन में बांध देते हो। बाप को भी बच्चों के सिवाए कुछ सूझता नहीं। निरन्तर बच्चों को ही याद करते हैं। कितने बार तो बाप को भोजन पर बुलाते हो, खाते हो, चलते हो, सोते हो तो भी बाप साथ है। कोई कर्म करते हो तो कहते हो कि काम आपका है, कराओ आप निमित्त हाथ हम चलाते हैं। फिर कर्म का बोझ भी बाप को दे देते हो तो श्रेष्ठ जादूगर हुए ना।
स्लोगन:-अपनी स्वस्थिति की शक्ति से परिस्थिति को बदलने वाले कभी परेशान नहीं हो सकते।
Font Resize