19 january 2019

TODAY MURLI 19 JANUARY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 19 January 2020

19/01/20
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
02/09/85

The easy way to attain success in every task is to have love.

Today, Baba has come to give the return of love to the especially beloved children. Baba has simply come to celebrate a meeting with the Madhuban residents as the special fruit of their tireless service. This is a practical example of love. The special foundation of the Brahmin family is this special love. At the present time, love is the easy way to attain success in every task of service. The foundation of a yogi life is faith, but the foundation of the family is love and it is this love that brings you close to someone’s heart. At the present time, together with the balance of remembrance and service, the balance of love and service is the method to use for success in service. Whether it is service in this land or service abroad, the method to use for success in both is spiritual love. You have heard the words “knowledge” and “yoga” from many, but for souls to experience love through drishti and elevated thoughts is something special and new. Today’s world needs love. No matter how arrogant a soul may be, love can bring him closer. People are beggars for love and beggars for peace, but it is only by having drishti filled with love that you can give the experience of peace. So, love automatically gives the experience of peace because you then become lost in love. This is why you automatically become bodiless for a short time. So, because of becoming bodiless, you easily experience peace. The Father too only gives a response to your love. Whether the chariot works or not, the Father has to give the proof of love. This is the instant visible fruit of love that BapDada wants to see in you children. Some have come back having been abroad on service (Gulzar Dadi, Jagdishbhai and Nirwairbhai) and others are now going (Dadiji and Mohiniben). Those souls are also receiving the fruit of love. According to the drama, you think one thing and something else happens. Nevertheless, you definitely receive the fruit. Therefore, the programme is automatically made. All of you came back having played your own parts very well. The predestined drama is fixed and so you easily receive the return. The foreign lands are also moving forward in service with deep love. They have very good courage and enthusiasm everywhere. Everyone’s thoughts of gratitude continue to reach BapDada because they too understand that there is such a need in Bharat, and it is this love for Bharat that gives them that co-operation. They say thanks from their hearts to the co-operative families for service in Bharat. To the extent that the land is far away, they are accordingly close in being worthy of receiving sustenance from the heart and this is why BapDada is giving love, remembrance and thanks to the children in return for their thanks. The Father sings your songs (of praise) too.

In Bharat too, they are playing very good parts on the peace march with a lot of zeal and enthusiasm. Everywhere, there is great splendour and beauty in the service being done. Zeal and enthusiasm makes you forget your tiredness and enables you to achieve success. The success of service everywhere is very good. BapDada is also very pleased to see the children’s zeal and enthusiasm for service.

Jagdishbhai has just returned from Nairobi having met the Pope:

You gave drishti to the Pope, did you not? This is also a means for you to achieve success easily in serving the VIPs. In Bharat, the Prime Minister especially came. So, you can now say that they (VIPs) came in Bharat too. If, in lands abroad, influential leaders of the main religions in particular come into close contact with you, then anyone here can easily have the courage to say that they have also come into contact with you. So, a very good means was created for this land and that was also a special means for service abroad. So, according to the time, any obstruction that stops them from coming close in service will also easily end. At least you were able to meet the Prime Minister. So, this example also helps for serving the people of the world. Everyone’s question as to whether others have come is now finished. So, this year, according to the drama, this has become a means for easy revelation in service. They are now coming closer. Their names alone will do the work. So, the land has now been prepared for just their names to do the work. They will not spread the sound. The mikes who are to spread the sound are different. These people are the ones who will give light to the mikes. Even so, the ground has been well prepared. What you previously used to think about serving VIPs – that it’s difficult in lands abroad – you now experience that to be easy everywhere. This result is now good. Because of their names, the ones to do the work will become ready. Now, just see who becomes an instrument. You all went everywhere to prepare the ground. You placed your feet in different directions and prepared them. Now, preparations are being made to see from where the instant, practical fruit will emerge. The results of all of you are good.

Those on the pad-yatra (peace march) are also moving forward with one strength and one support. At first, it seemed difficult, but when it becomes practical, it becomes easy. So, Baba is giving special love and remembrance to all those who have come from this land and abroad, and to those who have been instruments for service and have come, having made many others loving and co-operative to BapDada. Each child’s blessing is his own. To all the children in Bharat who are going on foot on this peace march, to all the children everywhere abroad who are instruments for service, to the children who are residents of Madhuban and are instruments for elevated service, to all the children of Bharat who are instruments to give zeal and enthusiasm to those who are on the peace march, to all those children everywhere, Baba is giving special love and remembrance and congratulations for the success of service. Everyone has made effort at each place. However, these are the instruments for a special task and this is why they have especially accumulated in their account. Examples are being prepared in each country – Mauritius, Nairobi, America – and these examples will be co-operative in the future for revelation to take place. Those from America have not done anything less. Each of the little places, whatever they have done according to their power, they have done a great deal. Abroad, the majority is still of Christian states. Even if they have lost that power, they haven’t let go of their religion. They may have stopped going to church, but they haven’t let go of their religion. This is why the Pope is like a king there. When you reach the king, the subjects automatically have that regard for you. So, this is a good example for even those who are staunch Christians. This example will be an instrument for the Christians. There is a connection between Krishna and the Christians. The atmosphere in Bharat is a different thing; there is a lot of concern for security. However, he met you with love and that is good. To give that time with royalty, to meet officially has its own impact. This shows that time is now coming close.

Abroad, in London too, the numbers are very good and they especially have love for the murli and love for the study. That is the foundation. London is number one in that. No matter what happens, they never miss class. London gives the most importance to 4.00 am yoga and morning class. The reason for this is love. Because of love, all are pulled to come. You pay very good attention to making the atmosphere powerful. In any case, the faraway lands consider the atmosphere to be the support, whether it is of the centre or their own homes. If the slightest thing happens, you instantly check yourself and really make effort to make the atmosphere powerful. There, you have a very good aim of making the atmosphere powerful. You don’t spoil the atmosphere over trivial matters. You understand that, if the atmosphere is not powerful, there won’t be success in service. This is why you pay very good attention to this – in your own efforts and also in terms of the atmosphere of the centre. None of you are any less in maintaining courage and enthusiasm.

Wherever you set foot, there is definitely special benefit for Brahmins and also for that country. They receive a message and the Brahmins experience extra power and also receive sustenance. Everyone is happy to receive special sustenance in the corporeal form and you move forward in service with this happiness and achieve success. Sustenance is essential for those who live in faraway lands: they receive sustenance and fly. Those who are unable to come to Madhuban experience Madhuban whilst sitting there, just as both the bliss of heaven and the confluence age are experienced here. This is why, according to the drama, the part created of your going abroad is essential and there is success in that too. Let each and every child abroad accept special congratulations for service personally by name and a special return for the success of service in the form of love and remembrance. Each and every child is in front of the Father. Every child from every country is appearing in front of Baba’s eyes. BapDada is giving love and remembrance to each child. Seeing the wonders of the children who are desperate to come, BapDada constantly showers those children with flowers of love. The power of their intellects is so sharp. They don’t have the other vimans (means of travel) and so the viman of their intellects is sharp. BapDada is pleased with the power of their intellects. Each place has its own speciality. Sindhis too are now coming closer. Whatever happened in the beginning has to happen at the end.

The illusions they had of us not doing social work has now also been removed by them seeing the peace march. Now, preparations for a revolution are taking place with great force. Those of Delhi are also invoking those who are on the peace march. So many Brahmins will come to their home. Only fortunate ones have so many Brahmin guests. Everyone has a right to Delhi. Those who have a right have to be given respect. Your name will spread in the world from Delhi. Of course you are doing everything in your own areas, but in this land and abroad, it is the TV and Radio of Delhi that will become instrumental.

Speaking to Dadi Nirmalashanta:

This is a sign of the original jewels. Whilst always remembering the lesson of “Ha ji”, you gave power to the body and reached here. The original jewels have this natural sanskar. You never say “No”. You always say, “Ha ji”, and it is this “Ha ji” that has made you into a great lord. This is why BapDada is also happy. The Father gave help to the child who maintained courage and gave the fruit in this meeting of love.

To Dadiji:

Give everyone congratulations for their zeal and enthusiasm for service. Whilst constantly swinging in the swing of happiness, you constantly continue to move forward in happiness and with love for the revelation. Therefore, congratulations to everyone for your pure and elevated thoughts. The group of the first fruit that emerged through Charlie and Ken etc. is giving a very good return. Humility easily enables you to carry out the task of renewal. Until one becomes humble, one cannot carry out the task of renewal. This transformation is very good. To listen to everyone, to merge it and then to give everyone love is the basis of success. You have progressed very well. The new Pandavas have made very good effort. You have brought about good transformation in yourselves. There is very good growth everywhere. Now, make plans for further newness. This much fruit has emerged as a result of everyone’s effort. Those who weren’t interested in listening to anything have come closer and are becoming Brahmin souls. Now, a new method of service will become the means for revelation to take place. The gathering of Brahmins is also good. Growth of service is now increasing. Once this growth begins, that wave will continue. Achcha.

Blessing: May you be a contented soul loved by everyone and make the fortress of the gathering strong.
The power of the gathering is a special power. No one can shake the fortress of a gathering that is united in one direction. However, the basis for this is to be loving with one another and to give regard to everyone, to remain content yourself and to make others content. Let no one be disturbed and let no one disturb you. Let all of you continue to give one another the co-operation of good wishes and pure feelings and the fortress of this gathering will then become strong. The power of the gathering is the special basis for victory.
Slogan: When every act of yours is accurate and yuktiyukt, you would then be called a pure soul

 

*** Om Shanti ***

Special homework to experience the avyakt stage in this avyakt month.

On the basis of faith and spiritual intoxication, Father Brahma came to know the guaranteed destiny and used everything in a worthwhile way in a second. He didn’t keep anything for himself. So, the sign of love is to use everything in a worthwhile way. To use something in a worthwhile way means to use it for an elevated purpose.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 19 JANUARY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 19 January 2020

19-01-20
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
मधुबन

“हर कार्य में सफलता का सहज साधन स्नेह”

आज मुरबी बच्चों के स्नेह का रिटर्न देने आये हैं। मधुबन वालों को अथक सेवा का विशेष फल देने के लिए सिर्फ मिलन मनाने आये हैं। ये है स्नेह का प्रत्यक्ष प्रमाण स्वरूप। ब्राह्मण परिवार का विशेष फाउण्डेशन है ही यह विशेष स्नेह। वर्तमान समय स्नेह हर सेवा के कार्य में सफलता का सहज साधन है। योगी जीवन का फाउण्डेशन तो निश्चय है लेकिन परिवार का फाउण्डेशन स्नेह है। जो स्नेह ही किसी के भी दिल को समीप ले आता है। वर्तमान समय याद और सेवा के बैलेन्स के साथ स्नेह और सेवा का बैलेन्स सफलता का साधन है। चाहे देश की सेवा हो, चाहे विदेश की सेवा हो, दोनों की सफलता का साधन रूहानी स्नेह है। ज्ञान और योग शब्द तो बहुतों से सुना है। लेकिन दृष्टि से व श्रेष्ठ संकल्प से आत्माओं को स्नेह की अनुभूति होना यह विशेषता और नवीनता है। और आज के विश्व को स्नेह की आवश्यकता है। कितनी भी अभिमानी आत्मा को स्नेह समीप ला सकता है। स्नेह के भिखारी शान्ति के भिखारी हैं लेकिन शान्ति का अनुभव भी स्नेह की दृष्टि द्वारा ही करा सकते हैं। तो स्नेह, शान्ति का स्वत: ही अनुभव कराता है क्योंकि स्नेह में खो जाते हैं इसलिए थोड़े समय के लिए अशरीरी स्वत: ही बन जाते हैं। तो अशरीरी बनने के कारण शान्ति का अनुभव सहज होता है। बाप भी स्नेह का ही रेसपांड देता है। चाहे रथ चले न चले फिर भी बाप को स्नेह का सबूत देना ही है। बच्चों में भी यही स्नेह का प्रत्यक्षफल बापदादा देखना चाहते हैं। कोई (गुल्जार बहन, जगदीश भाई, निर्वैर भाई) विदेश सेवा कर लौटे हैं और कोई (दादी जी और मोहिनी बहन) जा रहे हैं। ये भी उन आत्माओं के स्नेह का फल उन्हों को मिल रहा है। ड्रामा अनुसार सोचते और हैं लेकिन होता और है। फिर भी फल मिल ही जाता है इसलिए प्रोग्राम बन ही जाता है। सभी अपना-अपना अच्छा ही पार्ट बजा कर आये हैं। बना बनाया ड्रामा नूँधा हुआ है तो सहज ही रिटर्न मिल जाता है। विदेश भी अच्छी लगन से सेवा में आगे बढ़ रहा है। हिम्मत और उमंग उन्हों में चारों ओर अच्छा है। सभी की दिल के शुािढया के संकल्प बापदादा के पास पहुँचते रहते हैं क्योंकि वह भी समझते हैं, भारत में भी कितनी आवश्यकता है फिर भी भारत का स्नेह ही हमें सहयोग दे रहा है। इसी भारत में सेवा करने वाले सहयोगी परिवार को दिल से शुािढया करते हैं। जितना ही देश दूर उतना ही दिल से पालना के पात्र बनने में समीप हैं इसलिए बापदादा चारों ओर के बच्चों को शुािढया के रिटर्न में यादप्यार और शुािढया दे रहे हैं। बाप भी तो गीत गाते हैं ना।

भारत में भी अच्छे उमंग-उत्साह से पद-यात्रा का बहुत ही अच्छा पार्ट बजा रहे हैं। चारों ओर सेवा की धूमधाम की रौनक बहुत अच्छी है। उमंग-उत्साह थकावट को भुलाय सफलता प्राप्त करा रहा है। चारों ओर की सेवा की सफलता अच्छी है। बापदादा भी सभी बच्चों के सेवा के उमंग उत्साह का स्वरूप देख हर्षित होते हैं।

(नैरोबी में जगदीश भाई पोप से मिलकर आये हैं) पोप को भी दृष्टि दी ना। यह भी आप के लिए विशेष वी.आई.पी. की सेवा में सफलता सहज होने का साधन है। जैसे भारत में विशेष राष्ट्रपति आये। तो अभी कह सकते हैं कि भारत में भी आये हैं। ऐसे ही विशेष विदेश में विदेश के मुख्य धर्म के प्रभाव के नाते से समीप सम्पर्क में आये तो किसी को भी सहज हिम्मत आ सकती है कि हम भी सम्पर्क में आयें। तो देश का भी अच्छा सेवा का साधन बना और विदेश सेवा का भी विशेष साधन बना। तो समय प्रमाण जो भी सेवा में समीप आने में कोई भी रूकावट आती है, वह भी सहज समाप्त हो जायेगी। प्राइम मिनिस्टर का मिलना तो हुआ ना। तो दुनिया वालों के लिए, ये इग्जाम्पिल भी मदद देते हैं। सभी के क्वेश्चन कि और कोई आये हैं? ये क्वेश्चन खत्म हो जाते हैं। तो ये भी ड्रामा अनुसार इसी वर्ष सेवा में सहज प्रत्यक्षता के साधन बने। अभी समीप आ रहे हैं। इन्हों का तो सिर्फ नाम ही काम करेगा। तो नाम से जो काम होना है उसकी धरती तैयार हो गई। आवाज ये नहीं फैलायेंगे। आवाज फैलाने वाले माइक और हैं। ये माइक को लाइट देने वाले हैं। लेकिन फिर भी धरनी की तैयारी अच्छी हो गई है। जो विदेश में पहले वी.आई.पी. के लिए मुश्किल अनुभव करते थे, अभी वह चारों ओर सहज अनुभव करते हैं, ये रिजल्ट अभी अच्छी है। इन्हों के नाम से काम करने वाले तैयार हो जायेंगे। अभी देखो कौन निमित्त बनते हैं। धरनी तैयार करने के लिए चारों ओर सब गये। भिन्न-भिन्न तरफ धरनी को पांव देकर तैयार तो किया है। अभी फल प्रत्यक्ष रूप में किस द्वारा होता है, उसकी तैयारी अब हो रही है। सभी की रिजल्ट अच्छी है।

पदयात्री भी एक बल एक भरोसा रखकर के आगे बढ़ रहे हैं। पहले मुश्किल लगता है। लेकिन जब प्रैक्टिकल में आते हैं तो सहज हो जाता है। तो सभी देश-विदेश और जो भी सेवा के निमित्त बन सेवा द्वारा अनेकों को बापदादा के स्नेही सहयोगी बनाकर आये हैं, उन सभी को विशेष यादप्यार दे रहे हैं। हर बच्चे का वरदान अपना-अपना है। विशेष भारत के सब पदयात्रा पर चलने वाले बच्चों को और विदेश सेवा अर्थ चारों ओर निमित्त बने हुए बच्चों को और मधुबन निवासी श्रेष्ठ सेवा के निमित्त बने हुए बच्चों को, साथ-साथ जो सभी भारतवासी बच्चे यात्रा वालों को उमंग-उत्साह दिलाने के निमित्त बने हैं, उन सभी चारों ओर के बच्चों को विशेष यादप्यार और सेवा की सफलता की मुबारक दे रहे हैं। हरेक स्थान पर मेहनत तो की है, लेकिन ये विशेष कार्य अर्थ निमित्त बने इसलिए विशेष जमा हो गया। हरेक देश मोरीशस, नैरोबी, अमरीका ये सब इग्जाम्पिल तैयार हो रहे हैं। और ये इग्जाम्पिल आगे प्रत्यक्षता में सहयोगी बनेंगे। अमरीका वालों ने भी कम नहीं किया है। एक-एक छोटे स्थान ने भी जितना उमंग उल्लास से अपनी हैसियत (ताकत) के हिसाब से बहुत ज्यादा किया। फॉरेन में मैजारिटी क्रिश्चियन का फिर भी राज्य तो है ना। अभी चाहे वह ताकत खत्म हो गई है, लेकिन धर्म तो नहीं छोड़ा है। चर्च छोड़ दी है लेकिन धर्म नहीं छोड़ा है इसलिए पोप भी वहाँ राजा के समान है। राजा तक पहुँचे तो प्रजा में स्वत: ही रिगार्ड बैठता है। जो कट्टर क्रिश्चियन हैं, उन्हों के लिए भी ये एक्जाम्पिल अच्छा है। एक्जाम्पिल क्रिश्चियन के लिए निमित्त बनेगा। कृष्ण और क्रिश्चियन का कनेक्शन है ना। भारत का वातावरण फिर भी और होता है। सेक्यूरिटी आदि का बहुत होता है। लेकिन ये प्यार से मिला ये अच्छा है। रॉयल्टी से टाइम देना, विधिपूर्वक मिलना उसका प्रभाव डालता है। ये दिखाता है कि अभी समय समीप आ रहा है।

लण्डन में भी विदेश के हिसाब से बहुत अच्छी संख्या है और विशेष मुरली से प्यार है, पढ़ाई से प्यार है, ये फाउण्डेशन हैं। इसमें लण्डन का नम्बर वन है। कुछ भी हो जाए, कब क्लास मिस नहीं करते हैं। चार बजे का योग और क्लास का महत्व सबसे ज्यादा लण्डन में हैं। इसका भी कारण स्नेह है। स्नेह के कारण खिंचे हुए आते हैं। वातावरण शक्तिशाली बनाने पर अटेन्शन अच्छा है। वैसे भी दूर देश जो हैं वहाँ वायुमण्डल ही सहारा समझते हैं। चाहे सेवाकेन्द्र का वा अपना। जरा भी अगर कोई बात आती है तो फौरन अपने को चेक कर वातावरण शक्तिशाली बनाने का प्रयत्न अच्छा करते हैं। वहाँ वातावरण पावरफुल बनाने का लक्ष्य अच्छा है। छोटी-छोटी बात में वातावरण को खराब नहीं करते हैं। समझते हैं कि वातावरण शक्तिशाली नहीं होगा तो सेवा में सफलता नहीं होगी इसलिए यह अटेन्शन अच्छा रखते हैं। अपने पुरुषार्थ का भी और सेन्टर के वातावरण का भी। हिम्मत और उमंग में कोई कम नहीं हैं।

जहाँ भी कदम रखते हैं वहाँ अवश्य विशेष प्राप्ति ब्राह्मणों को भी होती है और देश को भी होती है। संदेश भी मिलता है और ब्राह्मणों में भी विशेष शक्ति बढ़ती और पालना भी मिलती। साकार रूप से विशेष पालना पाकर सभी खुश होते हैं और उसी खुशी में सेवा में आगे बढ़ते और सफलता को पाते हैं। दूर देश में रहने वालों के लिए पालना तो जरूरी है। पालना पाकर उड़ते हैं। जो मधुबन में आ नहीं सकते वह वहाँ बैठे मधुबन का अनुभव करते हैं। जैसे यहाँ स्वर्ग का और संगमयुग का आनन्द दोनों अनुभव करते हैं इसलिए ड्रामा अनुसार विदेश में जाने का पार्ट भी जो बना है वह आवश्यक है और सफलता भी है। हरेक विदेश के बच्चे अपने-अपने नाम से विशेष सेवा की मुबारक और विशेष सेवा की सफलता का रिटर्न यादप्यार स्वीकार करें। बाप के सामने एक-एक बच्चा है। हरेक देश का हरेक बच्चा नैनों के सामने आ रहा है। एक-एक को बापदादा यादप्यार दे रहे हैं। जो तड़पते हुए बच्चे हैं उन्हों की भी कमाल देख बापदादा सदा बच्चों के ऊपर स्नेह के पुष्पों की वर्षा करता है। बुद्धिबल उन्हों का कितना तेज है। दूसरा विमान नहीं है तो बुद्धि का विमान तेज है। उन्हों के बुद्धिबल पर बापदादा भी हर्षित होते हैं। हरेक स्थान की अपनी-अपनी विशेषता है। सिन्धी लोग भी अब समीप आ रहे हैं। जो आदि सो अन्त तो होना ही है।

ये भी जो भ्रान्ति बैठी हुई है कि ये सोशल वर्क नहीं करते हैं वह भी इस पदयात्रा को देख, ये भ्रान्ति भी मिट गई। अब क्रान्ति की तैयारी जोर शोर से हो रही है।

दिल्ली वाले भी पदयात्रियों का आह्वान कर रहे हैं, इतने ब्राह्मण घर में आयेंगे। ऐसे ब्राह्मण मेहमान तो भाग्यवान के पास ही आते हैं। देहली में सबको अधिकार है। अधिकारी को सत्कार तो देना है। देहली से ही विश्व में नाम जायेगा। अपनी-अपनी एरिया में तो कर ही रहे हैं। लेकिन देश-विदेश में तो देहली के ही टी.वी., रेडियो निमित्त बनेंगे।

दीदी निर्मलशान्ता जी से:- ये आदि रत्नों की निशानी है। हाँ जी का पाठ सदा याद होते हुए शरीर को भी शक्ति देकर पहुँच गयी। आदि रत्नों में ये नेचुरल संस्कार है। कब ना नहीं करते। सदैव हाँ जी करते हैं। और हाँ जी ने ही बड़ा हज़ूर बनाया है इसलिए बापदादा भी खुश हैं। हिम्मते बच्ची को मदद दे बाप ने स्नेह मिलन का फल दिया।

(दादी जी को) सभी को सेवा के उमंग-उत्साह की मुबारक देना। और सदा खुशी के झूले में झूलते रहते, खुशी से सेवा में प्रत्यक्षता की लगन से आगे बढ़ते रहते हैं इसलिए शुद्ध श्रेष्ठ संकल्प की सबको मुबारक हो। चारले, केन आदि जो ये पहला फल निकला, ये ग्रुप अच्छा रिटर्न दे रहे हैं। निर्मानता, निर्माण का कार्य सहज करती है। जब तक निर्मान नहीं बने तब तक निर्माण नहीं कर सकते। ये परिवर्तन बहुत अच्छा है। सबका सुनना और समाना और सभी को स्नेह देना ये सफलता का आधार है। अच्छी प्रोग्रेस की है। नये-नये पाण्डवों ने भी अच्छी मेहनत की है। अच्छा अपने में परिवर्तन लाया है। सब तरफ वृद्धि अच्छी हो रही है। अभी और नवीनता करने का प्लान बनाना। इतने तक तो सभी की मेहनत करने का फल निकला है जो पहले सुनते ही नहीं थे, वह समीप आकर ब्राह्मण आत्मायें बन रही हैं। अभी और प्रत्यक्षता करने का कोई नया सेवा का साधन बनेगा। ब्राह्मणों का संगठन भी अच्छा है। अभी सेवा वृद्धि की ओर बढ़ रही है। एक बार वृद्धि शुरू हो जाती है तो फिर लहर चलती है। अच्छा।

वरदान:- संगठन रूपी किले को मजबूत बनाने वाले सर्व के स्नेही, सन्तुष्ट आत्मा भव
संगठन की शक्ति विशेष शक्ति है। एकमत संगठन के किले को कोई भी हिला नहीं सकता। लेकिन इसका आधार है एक दो के स्नेही बन सर्व को रिगार्ड देना और स्वयं सन्तुष्ट रहकर सर्व को सन्तुष्ट करना। न कोई डिस्टर्व हो और न कोई डिस्टर्व करे। सब एक दो को शुभ भावना और शुभ कामना का सहयोग देते रहें तो यह संगठन का किला मजबूत हो जायेगा। संगठन की शक्ति ही विजय का विशेष आधार स्वरूप है।
स्लोगन:- जब हर कर्म यथार्थ और युक्तियुक्त हो तब कहेंगे पवित्र आत्मा।

 

अव्यक्त स्थिति का अनुभव करने के लिए विशेष होमवर्क

जैसे ब्रह्मा बाप ने निश्चय के आधार पर, रुहानी नशे के आधार पर, निश्चित भावी के ज्ञाता बन सेकेण्ड में सब सफल कर दिया। अपने लिए कुछ नहीं रखा। तो स्नेह की निशानी है सब कुछ सफल करो। सफल करने का अर्थ है श्रेष्ठ तरफ लगाना।

TODAY MURLI 19 JANUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 19 January 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 18 January 2019 :- Click Here

19/01/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the main thing is the pilgrimage of remembrance. Only by having remembrance will your lifespan increase and your sins be absolved. The stage, behaviour and way of speaking of someone who stays in remembrance would be first-class.
Question: Why should you children have even greater happiness than the deities?
Answer: Because you have now won a very big lottery. God is teaching you. In the golden age, deities will teach deities. Here, human beings teach human beings, whereas the Supreme Soul, Himself, is teaching you souls. You now become spinners of the discus of self-realisation. You have all the knowledge in you. Deities don’t have this knowledge.
Song: Awaken o brides, awaken! The new age is about to dawn.

Om shanti. Deities exist in the new age. They too are human beings, but their qualities are divine. They are Vaishnavs, doubly non-violent. Human beings now are doubly violent: they fight and battle a lot and also use the sword of lust. This is called the land of death in which vicious people live. That is called the world of deities where deities reside. They were doubly non-violent. There used to be their kingdom. If the duration of the cycle were hundreds of thousands of years, you would not be able to think about it. Nowadays, they continue to reduce the duration of the cycle. Some say that it is 7,000 years and some say that is 10,000 years. You children also know that the Father is God, the Highest on High, and that we, His children, reside in the land of peace. We are the guides who show the path. There is no mention of this pilgrimage in the Gita, although the word ‘Manmanabhav’ is mentioned. However, what is the meaning of that? Consider yourself to be a soul and remember the Father. This doesn’t enter anyone’s intellect. Only when the Father comes and explains would it enter their intellects. At this time, you are becoming deities from human beings. There are human beings here whereas deities are in the golden age. You are now truly changing from human beings into deities. This is your Godly mission. Human beings do not understand about the incorporeal Supreme Soul. How could the Incorporeal have hands and feet? Krishna has hands and feet; he has everything. On the path of devotion, they have written so many scriptures. You children now have many pictures etc. When you look at a picture, you remember what you have to explain with that picture. Many more pictures will also be made. At the very top of the picture, you also have to show the souls. There would only be souls and nothing else visible, then the subtle region and, below that, also show the world of human beings. You will then also show how, at the end, they ascend. Day by day, new inventions will continue to be made. You now have to do so much service according to the pictures you have. Then, such pictures will be made through which people will understand quickly. The tree will continue to grow very quickly. Whatever status each one claimed in the previous cycle, whatever result was announced then, that will emerge now. It isn’t that those who come here towards the end cannot become beads of the rosary. They too will become that. Those who do intense devotion remain engaged in their devotion day and night, for only then do they have visions. Such ones will also emerge here; they will make effort day and night and become pure from impure. Everyone has a chance. It isn’t that those at the end would be deprived. The drama is created in such a way that no one can be deprived. The message has to be given in all directions. It is mentioned in a scripture that one person was left out and he then complained. These pictures will also be printed in the newspapers etc. You will continue to receive invitations too. Everyone will come to know that the Father has come. When they have full faith, they will run. Your name will continue to be glorified. The golden age is called the new age. There is a newspaper called the “New Age”. They speak of New Delhi, but there cannot be this old fort or all the rubbish etc. in New Delhi. Everything has now become crooked. In the golden age even all the elements remain in order. Here, even the five elements are tamopradhan. There, everything is satopradhan and so happiness is received from each of the elements; there is no mention of sorrow. That is called heaven. You now understand all of these things and that we have truly all now become tamopradhan. We will make effort to become satopradhan and are now climbing to our destination. All the rest are in darkness. We are in the light. We are going up above and all the rest are falling down. You children have to churn all of this knowledge. Shiv Baba is the One who is teaching you. He would not churn this. It is Brahma who has to churn this. You churn everything and then explain it to others. Some don’t churn at all. They just remember the old world. Baba says: Forget the old world completely. However, Baba knows that the kingdom is being established, numberwise, according to the effort you make. The Father says: I come and establish the kingdom and then take everyone back home. Those people simply come to establish their own religions. Those of their religions follow them down. How can you praise them? All the praise is yours. It is only those of the deity religion who are called hero heroine. It is your life that is remembered as “A life like a diamond and a life like a shell.” From being at the very top, you fall and reach the very bottom. So, at this time, you children should have even greater happiness than the deities because you have won a lottery. God is now teaching you. There, deities would teach deities. Here, human beings teach human beings whereas the Supreme Father, the Supreme Soul, is teaching you souls. There is a difference, is there not? You Brahmins have understood about the kingdom of Rama and the kingdom of Ravan. The more you follow shrimat, the higher the status you will claim. Whatever people do on the path of ignorance, it is all wrong. At a young age, the intellect is baby-like (immature) and then it becomes mature. Engagement takes place after the age of 16 or 17 years. Nowadays, the world is very dirty. They even marry off little children who are still in the lap. Then their exchange of give and take also begins. There, marriages are so royal. You have had visions of it all. As you continue to make further progress, you will have visions of everything. The lifespan of very good, first-classyogi children will continue to increase. The Father says: Increase your lifespan with yoga. You children understand that you lack yoga. You beat your heads to stay in remembrance, but you are unable to have remembrance; you repeatedly forget. In fact, the chart of those who stay here should be very good. Those outside are involved in mundane business. You have to become satopradhan here by remembering the Father. Remember Me for at least eight hours while preparing food and doing all your work because only then will you reach the karmateet stage at the end. Some say that they stay in yoga for six to eight hours, but Baba would not believe that. Many are so embarrassed that they don’t write their chart s. They are unable to stay in remembrance for even half an hour. To listen to the murli is not remembrance. That is earning an income. When in remembrance, you stop listening. Some children write that they heard the murli in remembrance. However, that is not remembrance. Baba himself says: I repeatedly forget Baba. I sit to have my meals in remembrance: Baba, You are Abhogta. How can I say, “Baba, You are eating and I am also eating.”? At certain times, you would say that Baba is with you. The main thing is the pilgrimage of remembrance. The subject of the murli is completely separate. You become pure by having remembrance and your lifespan also increases. However, it isn’t that when you were listening to the murli, Baba was with you in that. Your sins aren’t absolved when listening to the murli. That requires effort. Baba knows that some children are unable to have any remembrance at all. The stage, behaviour and way of speaking of the children who stay in remembrance would be completely different. Only by having remembrance will you become satopradhan. However, Maya is such that she makes you a complete buddhu. This illness strikes many. The attachment that wasn’t there emerges suddenly and they become trapped. This is something that requires a lot of effort. Listening to the murli is a different subject. That is a matter of earning an income. Your lifespan does not increase through that. You won’t become pure and your sins won’t be absolved. Many listen to the murli and then also continue to fall into vice. They don’t speak the truth. The Father says: If you are unable to remain pure, why do you come here? They say: Baba, I am Ajamil (a great sinner). Only when I come here will I become pure. By coming here, there can be some transformation. Otherwise, where else would I go? This is the only path. Such ones come here. The arrow will strike the target at some point. Baba also says of this place: No impure beings can come here. This is the Court of Indra. At the moment, they are allowed to come. One day, the ordinance will be issued: Only when they give a firm guarantee will they be allowed to come. Then they will understand that this is an organization where impure ones are not allowed to enter. You children understand whose gathering this is. We are sitting with God, Ishwar, Somnath, Babulnath. He is the One who makes us pure. Now, at the end, many will come and so no one will be able to create any upheaval etc. Those who belong to this religion will emerge. Those of the Arya Samaj are also Hindus. The sects and cults have simply separated. Deities exist in the golden age. Here, all are Hindus. In fact, there is no Hindu religion. Hindustan is the name of a country. You children have to become spinners of the discus of self-realisation while walking and moving around. Students have to remember their studies. You have the whole cycle in your intellects. There is a little difference between the deities and you. After you become strong spinners of the discus of self-realisation, you will then become part of the clan of Vishnu. You understand that you are becoming that. The stage of the deities is the final stage. You will reach the final stage when you reach the karmateet stage. Shiv Baba is making you into spinners of the discus of self-realisation. He has k nowledge in Him. He is the One who is making you into those and you are the ones who are becoming those. You become Brahmins and then become deities. How can those ornaments be given to you at this time? You are now effort-makers. You then become part of the clan of Vishnu. The golden age is the Vaishnav clan. So you have to become like them. You have to become very sweet. Instead of using bad words, it is better not to speak at all. There is an example of a couple who were quarrelling and a sannyasi told one of them to put a bead in his mouth and never take it out, because a response couldn’t then be given. To conquer the five vices is not like going to your aunty’s home! Some share their experience of how they had a lot of anger in them and how they now have very little anger. You have to become very sweet. Yesterday, you used to sing praise of those deities. Today, you understand that you are becoming those deities. You do become those, only, numberwise. Baba would definitely mention the names of those who do service. You should show the path to others. Previously, we too didn’t know anything. Now, we have received so much knowledge. Those who don’t imbibe virtues very well are reported: Baba, this one has a lot of anger. Baba knows that. If you are unable to do spiritual service, there is also physical service to do. If you stay in remembrance of Baba and do service, that is also great fortune. Continue to remind one another. You will receive a lot of power by having remembrance. Those who stay in remembrance also have to keep their chart s. You can understand everything from a chart. Baba continues to caution everyone. Many people ask for peace in the world. There definitely was peace in the world at some point. In the golden age, there is nothing that would cause peacelessness. Here, there is the sweet Father and the sweet children who are making the whole world sweet. It is not sweet now. There is nothing but death everywhere. This play has taken place many times and will continue to take place. There is no end to it; the cycle continues to turn. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to have your sins absolved and to increase your lifespan, you definitely have to stay on the pilgrimage of remembrance. Only by having remembrance will you become pure. Therefore, definitely create a chart of at least eight hours remembrance.
  2. Become as sweet as the deities. Instead of using bad or wrong words, it is better not to speak at all. While doing spiritual or physical service, it is great fortune to stay in remembrance of the Father.
Blessing: May you be an elevated soul who remains stable in a constant and stable stage by experiencing God’s sweetness.
The children who experience God’s sweetness find all tastes of the world bland. Since just the one taste is sweet, your attention would only go to that one, would it not? Your mind will easily go to that one; it will not take any effort. The Father’s love, the Father’s help, the Father’s company and all attainments from the Father will easily enable you to make your stage constant and stable. Only souls who remain stable in such a constant and stable stage are elevated.
Slogan: To merge all the rubbish inside yourself and to give jewels is to become a master ocean.

*** Om Shanti ***

Special effort to become equal to Father Brahma.

Father Brahma did not hold onto any facilities of happiness, his rest or any other supports. He always remained beyond the awareness of the body, that is, he always remained merged in the love for the Flame. Similarly, follow the Father. Just as the Flame is the form of light, it is the form of light and might, in the same way, like the Flame, you yourself have to become the form of light and might.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 19 JANUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 19 January 2019

To Read Murli 18 January 2019 :- Click Here
19-01-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – मुख्य है याद की यात्रा, याद से ही आयु बढ़ेगी, विकर्म विनाश होंगे, याद में रहने वालों की अवस्था बोल-चाल बहुत फर्स्टक्लास होगा”
प्रश्नः- तुम बच्चों को देवताओं से भी जास्ती खुशी होनी चाहिए – क्यों?
उत्तर:- क्योंकि तुमको अभी बहुत बड़ी लाटरी मिली है। भगवान तुम्हें पढ़ाते हैं। सतयुग में देवता, देवताओं को पढ़ायेंगे। यहाँ मनुष्य, मनुष्यों को पढ़ाते हैं लेकिन तुम आत्माओं को स्वयं परमात्मा पढ़ा रहे हैं। तुम अभी स्वदर्शन चक्रधारी बन रहे हो। तुम्हारे में सारी नॉलेज है। देवताओं में यह नॉलेज भी नहीं।
गीत:- जाग सजनियाँ जाग….

ओम् शान्ति। नये युग में होते हैं देवी देवतायें। हैं वह भी मनुष्य परन्तु उन्हों के गुण देवताओं जैसे होते हैं। वह हैं वैष्णव डबल अहिंसक। अभी मनुष्य डबल हिंसक हैं, मारामारी भी करते, काम कटारी भी चलाते। इसको कहा जाता है मृत्युलोक, जिसमें विकारी मनुष्य रहते हैं। उसको कहा जाता है देव लोक जिसमें देवी-देवता रहते हैं। वह डबल अहिंसक थे। उन्हों का भी राज्य था। कल्प की आयु लाखों वर्ष की होती तो कोई बात का ख्याल भी नहीं आता। आजकल कल्प की आयु कम करते जाते हैं। कोई 7 हज़ार वर्ष कहते, कोई 10 हज़ार कहते। यह भी बच्चे जानते हैं कि बाप है ऊंचे ते ऊंचा भगवान और हम उनके बच्चे रहते हैं शान्तिधाम में। हम पण्डे हैं रास्ता बताने वाले। इस यात्रा का कोई वर्णन है नहीं। भल गीता में अक्षर है मनमनाभव। परन्तु उनका अर्थ क्या है? अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो, यह किसकी बुद्धि में नहीं आता। जब बाप आकर समझाये तब किसकी बुद्धि में आये। इस समय तुम मनुष्य से देवता बनते हो। मनुष्य यहाँ हैं, देवता सतयुग में होते हैं। बरोबर तुम अभी मनुष्य से देवता बनते हो। तुम्हारी यह ईश्वरीय मिशन है। निराकारी परमात्मा को कोई मनुष्य तो समझ न सके। निराकार को हाथ पांव कहाँ से आया। कृष्ण को हाथ पाँव सब कुछ है। भक्ति मार्ग के कितने शास्त्र बनाये हैं। अब तुम बच्चों के पास चित्र आदि तो बहुत हैं। चित्र से याद आती है कि इस चित्र पर यह समझायें, और भी बहुत चित्र बनते जायेंगे। एकदम ऊपर आत्माओं का भी दिखाना है। आत्मायें ही आत्मायें दिखाई देंगी। फिर सूक्ष्मवतन, उनके नीचे मनुष्य लोक भी बनायेंगे। मनुष्य कैसे पिछाड़ी में आकर फिर ऊपर चढ़ते हैं, यह दिखायेंगे। दिन प्रतिदिन नई इन्वेनशन निकलती जायेगी। अब जितने चित्र हैं, उतनी सर्विस भी करनी है। फिर ऐसे-ऐसे चित्र बनेंगे जिससे मनुष्य जल्दी समझ जायेंगे। झाड़ बहुत जल्दी बढ़ता जायेगा। कल्प पहले जिसने जो पद पाया होगा, जो रिजल्ट निकली होगी वही निकलेगी। ऐसे नहीं कि पिछाड़ी में आने वाले माला के दाने नहीं बन सकते हैं। वह भी बनेंगे। नौधा भक्ति वाले रात दिन भक्ति में लगे रहते हैं, तब उन्हों को साक्षात्कार होता है। यहाँ भी ऐसे निकलेंगे। रात दिन मेहनत कर पतित से पावन बनेंगे। चांस सबको है। ऐसे नहीं पिछाड़ी में कोई रह जाये। ड्रामा ही ऐसा बना हुआ है, जो कोई रह नहीं सकता। सब तरफ पैगाम देना है। शास्त्रों में है एक रह गया तो उल्हना दिया। यह चित्र अखबार आदि में भी पड़ेंगे। तुमको भी निमंत्रण मिलते रहेंगे। सबको मालूम पड़ेगा कि बाप आया हुआ है। जब पूरा निश्चय होगा तब दौड़ेंगे। नामाचार निकलता ही रहेगा। नवयुग सतयुग को ही कहा जाता है। नवयुग अखबार भी निकलती है। कहते हैं न्यु देहली परन्तु न्यु देहली में यह पुराना किला, किचड़ा आदि हो न सके। अभी तो हर चीज़ टेढ़ी बाँकी हो गई है। सतयुग में सब तत्व भी आर्डर में रहते हैं। यहाँ तो 5 तत्व भी तमोप्रधान हैं। वहाँ सब सतोप्रधान होते हैं तो हर एक तत्व से सुख मिलता है। दु:ख का नाम भी नहीं। उसका नाम है स्वर्ग।

यह सब बातें अब तुम समझते हो कि बरोबर अभी हम तमोप्रधान बन गये हैं। सतोप्रधान बनने के लिए पुरुषार्थ कर मंजिल पर चढ़ रहे हैं और सब अन्धियारे में हैं। हम रोशनी में हैं। हम ऊपर जा रहे हैं और सब नीचे गिर रहे हैं। यह सब विचार सागर मंथन तुम बच्चों को करना है। शिवबाबा है सिखलाने वाला। वह तो मंथन नहीं करेंगे। ब्रह्मा को मंथन करना होता है। तुम सब विचार सागर मंथन कर समझाते हो। कोई का तो मंथन बिल्कुल नहीं चलता। पुरानी दुनिया ही याद पड़ती है। बाबा कहते हैं पुरानी दुनिया को एकदम भूल जाओ। परन्तु बाबा जानते हैं – नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार राजधानी स्थापन हो रही है। बाप कहते हैं मैं आकर राजधानी स्थापन कर बाकी सबको वापस ले जाता हूँ। वह लोग तो सिर्फ अपना-अपना धर्म स्थापन करते हैं। उनके पिछाड़ी उनके धर्म के आते रहते हैं। उनकी क्या महिमा करेंगे। महिमा तो तुम्हारी है। आदि सनातन देवी-देवता धर्म को ही हीरो हीरोइन कहा जाता है। हीरे जैसा जन्म और कौड़ी जैसा जन्म तुम्हारे लिए गाया हुआ है। फिर तुम एकदम चोटी से गिरकर एकदम नीचे आकर पड़ते हो। तो इस समय तुम बच्चों को देवताओं से भी ज्यादा खुशी होनी चाहिए क्योंकि तुमको लॉटरी मिली है। तुम्हें अब भगवान पढ़ाते हैं। वहाँ तो देवता, देवताओं को पढ़ायेंगे। यहाँ मनुष्य, मनुष्यों को पढ़ाते हैं और तुम आत्माओं को परमपिता परमात्मा पढ़ाते हैं। फ़र्क हो गया ना।

तुम ब्राह्मणों ने राम राज्य और रावण राज्य को भी समझा है। अब तुम जितना श्रीमत पर चलेंगे उतना ऊंच पद पायेंगे। अज्ञान काल में जो करते हैं वह उल्टा ही होता है। छोटे पन में सगीर बुद्धि होती है फिर बालिग बुद्धि होती है। 16-17 वर्ष के बाद सगाई होती है। आजकल तो गन्द बहुत है। गोद वाले बच्चे की भी सगाई करा लेते हैं। फिर लेना देना शुरू कर लेते हैं। वहाँ शादियाँ कितनी रायॅल होती हैं। तुमने सब साक्षात्कार किया है। जितना आगे बढ़ते जायेंगे तो तुम सब साक्षात्कार करेंगे। अच्छे फर्स्टक्लास योगी बच्चों की आयु बढ़ती जायेगी। बाप कहते हैं योग से अपनी आयु बढ़ाओ। बच्चे समझते हैं योग में हम ढीले हैं। याद में रहने लिए माथा मारते हैं परन्तु रह नहीं सकते। घड़ी-घड़ी भूल जाते हैं। वास्तव में यहाँ वालों का चार्ट बहुत अच्छा होना चाहिए। बाहर तो गोरखधन्धे में रहते हैं। बाप को याद करते-करते यहाँ ही तुमको सतोप्रधान बनना है। कम से कम भोजन बनाते, काम करते 8 घण्टा मुझे याद करो तब कर्मातीत अवस्था अन्त में होगी। कोई कहे मैं 6-8 घण्टा योग में रहता हूँ तो बाबा मानेगा नहीं। बहुतों को लज्जा आती है, चार्ट नहीं लिखते हैं। आधा घण्टा भी याद में नहीं रह सकते। मुरली सुनना कोई याद नहीं है, यह तो धन कमाते हो। याद में तो सुनना बन्द हो जाता है। कई बच्चे लिख देते हैं याद में मुरली सुनी, परन्तु यह याद थोड़ेही है। बाबा खुद कहते हैं मैं घड़ी-घड़ी भूल जाता हूँ। याद में भोजन करने बैठता हूँ, बाबा आप तो अभोक्ता हो, यह कैसे कहूँ बाबा आप भी खाते हो, हम भी खाते हैं। कोई-कोई बात में कहेंगे कि बाबा भी साथ है। मुख्य है याद की यात्रा। मुरली की सबजेक्ट बिल्कुल अलग है। याद से पवित्र बनते हैं। आयु बढ़ती है। बाकी ऐसे नहीं कि मुरली सुनी तो बाबा इसमें था ना। मुरली सुनने से विकर्म विनाश नहीं होंगे। मेहनत है। बाबा जानते हैं बहुत बच्चे बिल्कुल याद नहीं कर सकते हैं। याद में रहने वाले की अवस्था, बोल चाल बिल्कुल अलग रहेगा। याद से ही सतोप्रधान बनेंगे। परन्तु माया ऐसी है जो एकदम बुद्धू बना देती है। बहुतों की बीमारी उथल पड़ती है। मोह जो नहीं था वह उथल पड़ता है। फँस मरते हैं। बड़ी मेहनत का काम है। मुरली सुनना यह सबजेक्ट अलग है। यह है धन कमाने की बात, इसमें आयु नहीं बढ़ेगी, पावन नहीं बनेंगे, विकर्म विनाश नहीं होंगे। मुरली तो बहुत सुनते हैं। फिर विकार में गिरते रहते हैं। सच नहीं बताते। बाप कहते हैं पवित्र नहीं रह सकते तो यहाँ क्यों आते हो? कहते हैं बाबा मैं अजामिल हूँ। यहाँ आऊंगा तब तो पावन बनूँगा। यहाँ आने से कुछ सुधार होगा, नहीं तो कहाँ जायें। रास्ता तो यही है। ऐसे-ऐसे भी आते हैं। कोई न कोई समय तीर लग जायेगा। बाबा यहाँ के लिए भी कहते हैं – यहाँ कोई अपवित्र को नहीं आना चाहिए। यह तो इन्द्र सभा है। अभी तक तो आ जाते हैं। एक दिन यह भी आर्डीनेन्स निकलेगा, जब पक्की गैरन्टी करे तब एलाऊ करें। तो समझेंगे यह तो ऐसी संस्था है, कोई अपवित्र अन्दर जा नहीं सकता। तुम बच्चे समझते हो यह किसकी सभा है। हम भगवान, ईश्वर, सोमनाथ, बबुलनाथ के पास बैठे हैं। वही पावन बनाने वाला है। अभी आखरीन में बहुत आ जायेंगे तो फिर कोई हंगामा आदि कर न सके। इस धर्म के जो होंगे वह निकल आयेंगे। आर्य समाजी भी हैं हिन्दू। सिर्फ मठ पंथ अलग कर दिया है। देवतायें होते हैं सतयुग में। यहाँ सब हिन्दू हैं। वास्तव में हिन्दू धर्म है नहीं, यह हिन्दुस्तान तो देश का नाम है।

तुम बच्चों को उठते बैठते, चलते स्वदर्शन चक्रधारी बनना है। स्टूडेन्ट को पढ़ाई की याद रहनी चाहिए ना। सारा चक्र बुद्धि में है। देवताओं और तुम्हारे में थोड़ा फ़र्क रहा है। पक्के स्वदर्शन चक्रधारी बन जायेंगे तो फिर विष्णु के कुल के बन जायेंगे। तुम समझते हो हम यह बन रहे हैं। वह देवतायें फाइनल हैं। तुम फाइनल तब होंगे जब कर्मातीत अवस्था हो। शिवबाबा तुमको स्वदर्शन चक्रधारी बनाते हैं। उनमें नॉलेज है ना। वह हैं तुमको बनाने वाले। तुम हो बनने वाले। ब्राह्मण बन फिर देवता बनेंगे। अब यह अलंकार तुमको कैसे दें। अब तुम पुरुषार्थी हो। फिर तुम विष्णु के कुल के बनते हो। सतयुग वैष्णव कुल है ना। तो ऐसा बनना है। तुमको तो मीठा बनना है। ऐसा वैसा अक्षर बोलने से न बोलना अच्छा है। एक दृष्टांत है – दो लड़ते थे, सन्यासी ने कहा मुख में मुहलरा डाल लो। कभी निकालना नहीं। रेसपान्ड मिल न सके। 5 विकारों को जीतना कोई मासी का घर नहीं है। कोई तो अपना अनुभव भी बताते हैं – हमारे में बहुत क्रोध था, अब बहुत कम हो गया है। बहुत मीठा बनना है। कल तुम इन देवताओं के गुण गाते थे। आज तुम समझते हो हम यह बन रहे हैं। नम्बरवार ही बनेंगे। जो सर्विस करेंगे उनका नाम ज़रूर बाबा भी लेंगे। रास्ता बताना चाहिए। हम भी पहले कुछ नहीं जानते थे। अब कितनी नॉलेज मिली है। जो अच्छी रीति धारण नहीं करते तो उनकी रिपोर्ट आती है। बाबा इनमें तो बहुत क्रोध है। बाबा जानते हैं यह रूहानी सर्विस नहीं कर सकते तो फिर स्थूल सर्विस। बाबा की याद में रहकर सर्विस करें तो अहो भाग्य। एक दो को याद दिलाते रहो। याद से बहुत बल मिलेगा। याद करने वाले को फिर चार्ट रखना है। चार्ट से मालूम पड़ जाता है। हर एक को बाबा सावधान करते रहते हैं। विश्व में शान्ति बहुत माँगते हैं। ज़रूर कभी विश्व में शान्ति थी। सतयुग में अशान्ति की कोई बात भी नहीं। स्वीट बाप स्वीट बच्चे सारे विश्व को स्वीट बनाते हैं। अब स्वीट कहाँ हैं। मौत ही मौत लगा पड़ा है। यह खेल अनेक बार होता है और होता ही रहता है। इन्ड हो नहीं सकती। चक्र फिरता रहता है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) विकर्म विनाश करने वा आयु को बढ़ाने के लिए याद की यात्रा में ज़रूर रहना है। याद से ही पावन बनेंगे इसलिए कम से कम 8 घण्टा याद का चार्ट बनाना है।

2) देवताओं समान मीठा बनना है। ऐसा वैसा कोई शब्द बोलने के बजाए न बोलना अच्छा है। रूहानी वा स्थूल सर्विस करते बाप की याद रहे तो अहो भाग्य।

वरदान:- ईश्वरीय रस का अनुभव कर एकरस स्थिति में स्थित रहने वाली श्रेष्ठ आत्मा भव
जो बच्चे ईश्वरीय रस का अनुभव कर लेते हैं उनको दुनिया के सब रस फीके लगते हैं। जब है ही एक रस मीठा तो एक ही तरफ अटेन्शन जायेगा ना। सहज ही एक तरफ मन लग जाता है, मेहनत नहीं लगती है। बाप का स्नेह, बाप की मदद, बाप का साथ, बाप द्वारा सर्व प्राप्तियां सहज एकरस स्थिति बना देती हैं। ऐसी एकरस स्थिति में स्थित रहने वाली आत्मायें ही श्रेष्ठ हैं।
स्लोगन:- किचड़े को समाकर रत्न देना ही मास्टर सागर बनना है।

ब्रह्मा बाप समान बनने के लिए विशेष पुरुषार्थ

जैसे ब्रह्मा बाप ने अपने सुख के साधनों का, आराम का, किसी भी बात का आधार नहीं रखा। वे सब प्रकार की देह की स्मृति से खोये हुए अर्थात् निरन्तर शमा के लव में लवलीन रहे, ऐसे फालो फादर करो। जैसे शमा ज्योति-स्वरुप, लाइट माइट रुप है, वैसे शमा के समान स्वयं भी लाइट-माइट रुप बनो।

Font Resize