18 september ki murli

TODAY MURLI 18 SEPTEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 18 September 2020

18/09/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are instruments to establish peace in the world. Therefore, you must never become peaceless.
Question: Which children does the Father call His obedient children?
Answer: The children who follow the Father’s main direction of waking up at amrit vela and remembering the Father, those who bathe early in the morning and freshen themselves up and sit on the pilgrimage of remembrance at the fixed time are said by the Father to be worthy and obedient children. They are the ones who will become kings. Unworthy children will end up sweeping the floor.

Om shanti. The meaning of this has been explained to you children. “Om” means I am a soul. Everyone says that there is definitely such a thing as a living being and that there is also the one Father of all souls. The father of each one’s body is separate. It is in the intellects of you children that you receive limited inheritances from your limited fathers and the unlimited inheritance from your unlimited Father. People want peace in the world at this time. When you explain about peace using the pictures, bring them to the confluence of the end of the iron age and the beginning of the golden age. That is the golden age, the new world, in which there is the one religion of purity, peace and happiness. That is called heaven. Everyone accepts that there is happiness in the new world and that there cannot be sorrow there. It is very easy to explain this to anyone. The question of peace and peacelessness arises here in this world. That is the land of Nirvana, where there’s no question of peace and peacelessness. When you children give lectures, first of all take up the topic of peace in the world. Human beings make a lot of effort to find peace and they even receive prizes. In fact, there is no question of running around for peace. The Father says: Simply stabilise yourself in your original religion and your sins will be absolved. By stabilising yourself in your original religion, there will be peace. You are children of the everpeaceful Father. You receive this inheritance from Him. That isn’t called eternal liberation. Even God cannot receive eternal liberation. God, too, definitely has to come to play His part. He says: I come at the confluence age of every cycle. If God doesn’t receive eternal liberation, how could His children have eternal liberation? You have to churn the ocean of knowledge about these things all day long. The Father only tells you children these things. You children have more practice in explaining to others. When Shiv Baba explains, only you Brahmins understand. You are the ones who have to churn the ocean of knowledge because you are the ones on service. You have to explain a great deal because you remain on service day and night. People continue to come to the museums at all times of the day. In some places, people even come until 10 or 11pm. In other places, they begin to serve them from 4.00am. Here, it is your home and so you can sit here whenever you want. People go to the centres outside from far away. Therefore, they have to have a fixed time. Here, children can wake up at any time. However, you mustn’t study till late and then nod off after waking up in the morning. Therefore, the morning time is fixed so that you can bathe and freshen yourselves up and then come here. Those who don’t come on time are not called obedient children. A physical father has worthy and unworthy children. The unlimited Father also has such children. Worthy ones will go and become kings whereas unworthy ones will go and sweep the floors. Everything will be known. The birth of Krishna has also been explained to you. It is heaven when Krishna takes birth. At that time there is just one kingdom and there is peace in the world. There will be very few human beings in heaven. That is the new world. There cannot be peacelessness there. There is peace when there is the one religion that the Father establishes. Later, when other religions come, there is peacelessness. There, there is only peace because they are 16 celestial degrees full. The moon is so beautiful when it is full! That is called the full moon. Those in the silver age are said to be three-quarters full. Therefore, they had become defective; they are two degrees less. There is complete peace in the golden age. When the world becomes 25% old, there will be a little conflict. The beauty decreases when two degrees are reduced. In heaven there is complete peace whereas in hell there is complete peacelessness. This is the time when people want peace in the world. Previously, the sound of people wanting peace in the world wasn’t heard so much. Now that sound has spread because peace is being established in the world. Souls want peace in the world. People simply talk about peace in the world because they are body conscious. The 84 births are now coming to an end. Only the Father comes and explains this. You remember the Father alone. When and in which form does He come and establish heaven? His name is Heavenly God, the Father. No one knows how He creates heaven. Shri Krishna cannot create it; he is called a deity. Human beings bow down to deities. It is because they have divine virtues that they are called deities. When someone has many virtues he is said to be like a deity. Those who fight and quarrel are said to be like devils. You children know that you are sitting in front of the unlimited Father. So the behaviour of you children has to be very good. The Father has seen some extended families on the path of ignorance where six to seven families all live together like milk and sugar, whereas, in other families, there are only two people but they fight and quarrel. You are the children of God. You have to live together completely like milk and sugar. In the golden age they live like milk and sugar. You are learning to live like milk and sugar here. So, you have to live with each other with a lot of love. The Father says: Check yourself internally to see that you haven’t performed any sinful acts. Have I caused anyone sorrow? None of you sits and checks yourself in this way. This is a matter of great understanding. You are the children who are to establish peace in the world. If there are some who create peacelessness at home, how could they establish peace? If a child causes trouble for his physical father, he (the father) says it would be better if he were dead. Habits become firm. Some don’t understand that they are children of the unlimited Father and that they have to establish peace in the world. You are Shiv Baba’s children. Therefore, if you are peaceless, go to Shiv Baba. He is the Diamond. He will very quickly show you a way to become peaceful. He will show you a method to find peace. There are many whose behaviour is not like those of a royal family. You are now getting ready to go to the beautiful new world. This is the dirty world, the brothel, which is disliked. Peace in the world will be in the new world. There cannot be peace at the confluence age. Here, you are making effort to become peaceful. If full effort is not made, there has to be punishment. Dharamraj is also with Me. When the time to settle all karmic accounts comes, there will be great punishment. There is definitely the suffering of karma. When someone falls ill, that too is the suffering of karma. There is no one higher than the Father. He explains: Children, become beautiful and you will claim a high status. Otherwise, there is no benefit. If you don’t claim the inheritance from God, the Father, whom you have been remembering for half the cycle, then of what use are you children? However, according to the drama, this definitely has to happen. So, there are many ways in which you can explain to others. There was peace in the world in the golden age when it was the kingdom of Lakshmi and Narayan. The war will definitely take place, because there is peacelessness. Krishna will then come again in the golden age. It is said that even the shadows of the deities cannot come in the iron age. Only you children listen to these things. You know that Shiv Baba is teaching us. You have to imbibe this. It takes your whole life to do this. It is said: Even if you explain to them their whole life long, they still won’t be able to understand! The unlimited Father says: First of all, explain the main thing. Knowledge is separate from devotion. For half the cycle, it is the day and for half the cycle it is the night. In the scriptures, they have written the duration of the cycle incorrectly, in which case it wouldn’t be half and half. Among you too, it is good if you haven’t studied the scriptures etc. Those who have studied them will have doubt and continue to ask questions. In fact, when it is people’s stage of retirement they remember God by following someone or other’s directions. It depends on what their guru teaches them. They are taught devotion too. There isn’t a guru who doesn’t teach devotion. They have the strength of devotion and this is why they have so many followersFollowers are said to be devotees and worshippers. Here, all are worshippers. There, no one is a worshipper. God can never become a worshipper. Many points are explained to you. Gradually, you children will develop the power to explain to others. You now tell them that Krishna is coming. Krishna will definitely be in the golden age. Otherwise, how would the world history and geography repeat? Krishna won’t be there alone; as are the king and queen, so are the subjects. This too requires understanding. You children understand that you are the Father’s children. The Father has come to give you your inheritance. Neither will everyone go to heaven nor will everyone go to the silver age. The tree grows gradually. This is the human world tree. There, that is the tree of souls. Establishment takes place here through Brahma. Then there is destruction through Shankar and then there is sustenance. You must say these words correctly. You children have the intoxication of how the world cycle spins, how creation takes place. There is now the new, small creation. This is like a somersault. First, there are many shudras and then the Father comes and creates the Brahmin creation through Brahma who then become the topknots. The topknot and the feet come together. First, there have to be Brahmins. The age of Brahmins is very short and then there are deities. This picture of the different castes is very useful. It is very easy to explain this picture. It shows the various forms of the variety of human beings. There is so much pleasure in explaining this. When Brahmins exist, all the other religions also exist. The sapling of Brahmins is planted from shudras. People plant tree saplings. The Father too is planting a sapling for there to be peace in the world. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and Good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Constantly have the awareness of being the children of God. Always live together like milk and sugar. Don’t cause anyone sorrow.
  2. Check yourself internally to see that you are not performing sinful actions. Check that you don’t have the habit of becoming peaceless or of spreading peacelessness.
Blessing: May you be yogyukt and free from bondage with the awareness of belonging to the one Father and none other.
It is now time to return home, so you must therefore become free from bondage and remain yogyukt. To be free from bondage means wearing a loose dress, not a tight one. As soon as you receive an order, you just have to go in a second. In order to receive a blessing for the stage of being free from bondage and being yogyukt, always keep this promise in your awareness, “One Father and none other”, because, in order to return home and go into the golden-aged kingdom, you need to leave this old body. So, check yourself: Have I become everready or are there even now some strings that are still tied? This old costume is not tight, is it?
Slogan: Do not eat the extra food of waste thoughts and you will be saved from any illnesses of being overweight.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 18 SEPTEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 18 September 2020

Murli Pdf for Print : – 

18-09-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
”मीठे बच्चे -तुम विश्व में शान्ति स्थापन करने के निमित्त हो, इसलिए तुम्हें कभी अशान्त नहीं होना चाहिए”
प्रश्नः- बाप किन बच्चों को फरमानबरदार बच्चे कहते हैं?
उत्तर:- बाप का जो मुख्य फरमान है कि बच्चे अमृतवेले (सवेरे) उठकर बाप को याद करो, इस मुख्य फरमान को पालन करते हैं, सवेरे-सवेरे स्नान आदि कर फ्रेश हो मुकरर टाइम पर याद की यात्रा में रहते हैं, बाबा उन्हें सपूत वा फरमानबरदार कहते हैं, वही जाकर राजा बनेंगे। कपूत बच्चे तो झाड़ू लगायेंगे।

ओम् शान्ति। इसका अर्थ तो बच्चों को समझाया है। ओम् अर्थात् मैं आत्मा हूँ। ऐसे सब कहते हैं जीव आत्मा हैं जरूर और सब आत्माओं का एक बाप है। शरीरों के बाप अलग-अलग होते हैं। यह भी बच्चों की बुद्धि में है, हद के बाप से हद का और बेहद के बाप से बेहद का वर्सा मिलता है। अब इस समय मनुष्य चाहते हैं विश्व में शान्ति हो। अगर चित्रों पर समझाया जाए तो शान्ति के लिए कलियुग अन्त सतयुग आदि के संगम पर ले आना चाहिए। यह है सतयुग नई दुनिया, उनमें एक धर्म होता है तो पवित्रता-शान्ति-सुख है। उनको कहा ही जाता है हेविन। यह तो सब मानेंगे। नई दुनिया में सुख है, दु:ख हो नहीं सकता। किसको भी समझाना बहुत सहज है। शान्ति और अशान्ति की बात यहाँ विश्व पर ही होती है। वह तो है ही निवार्णधाम, जहाँ शान्ति-अशान्ति का प्रश्न ही नहीं उठ सकता है। बच्चे जब भाषण करते हैं तो पहले-पहले विश्व में शान्ति की बात ही उठानी चाहिए। मनुष्य शान्ति के लिए बहुत प्रयास करते हैं, उनको प्राइज़ भी मिलती रहती है। वास्तव में इसमें दौड़ा-दौड़ी करने की बात है नहीं। बाप कहते हैं सिर्फ अपने स्वधर्म में टिको तो विकर्म विनाश हो जायेंगे। स्वधर्म में टिकेंगे तो शान्ति हो जायेगी। तुम हो ही एवर शान्त बाप के बच्चे। यह वर्सा उनसे मिलता है। उनको कोई मोक्ष नहीं कहेंगे। मोक्ष तो भगवान को भी नहीं मिल सकता। भगवान को भी पार्ट में जरूर आना है। कहते हैं कल्प-कल्प, कल्प के संगमयुगे मैं आता हूँ। तो भगवान को भी मोक्ष नहीं तो बच्चे फिर मोक्ष को कैसे पा सकते हैं। यह बातें सारा दिन विचार सागर मंथन करने की हैं। बाप तो तुम बच्चों को ही समझाते हैं। तुम बच्चों को समझाने की प्रैक्टिस जास्ती है। शिवबाबा समझाते हैं तो तुम सब ब्राह्मण ही समझते हो। विचार सागर मंथन तुमको करना है। सर्विस पर तुम बच्चे हो। तुमको तो बहुत समझाना होता है। दिन-रात सर्विस में रहते हैं। म्यूज़ियम में सारा दिन आते ही रहेंगे। रात्रि को 10-11 तक भी कहाँ आते हैं। सवेरे 4 बजे से भी कहाँ-कहाँ सर्विस करने लग पड़ते हैं। यहाँ तो घर है, जब चाहें तब बैठ सकते हैं। सेन्टर्स में तो बाहर से दूर-दूर से आते हैं तो टाइम मुकरर रखना पड़ता है। यहाँ तो कोई भी टाइम बच्चे उठ सकते हैं। परन्तु ऐसे टाइम तो नहीं पढ़ना है जो बच्चे उठें और झुटका खायें इसलिए सवेरे का टाइम रखा जाता है। जो स्नान आदि कर फ्रेश हो आयें फिर भी टाइम पर नहीं आते तो उनको फरमानबरदार नहीं कह सकते हैं। लौकिक बाप को भी सपूत और कपूत बच्चे होते हैं ना। बेहद के बाप को भी होते हैं। सपूत जाकर राजा बनेंगे, कपूत जाकर झाड़ू लगायेंगे। मालूम तो सब पड़ जाता है ना।

कृष्ण जन्माष्टमी पर भी समझाया है। कृष्ण का जन्म जब होता है तब तो स्वर्ग है। एक ही राज्य होता है। विश्व में शान्ति है। स्वर्ग में बहुत थोड़े मनुष्य होंगे। वह है ही नई दुनिया। वहाँ अशान्ति हो नहीं सकती। शान्ति तब है जब एक धर्म है। जो धर्म बाप स्थापन करते हैं। बाद में जब और-और धर्म आते हैं तो अशान्ति होती है। वहाँ है ही शान्ति, 16 कला सम्पूर्ण हैं ना। चन्द्रमा भी जब सम्पूर्ण होता है तो कितना शोभता है, उनको फुल मून कहा जाता है। त्रेता में 3/4 कहेंगे, खण्डित हो गया ना। दो कला कम हो गई। सम्पूर्ण शान्ति सतयुग में होती है। 25 परसेन्ट पुरानी सृष्टि होगी तो कुछ न कुछ खिट-खिट होगी। दो कला कम होने से शोभा कम हो गई। स्वर्ग में बिल्कुल शान्ति, नर्क में है बिल्कुल अशान्ति। यह समय है जब मनुष्य विश्व में शान्ति चाहते हैं, इनसे आगे यह आवाज़ नहीं था कि विश्व में शान्ति हो। अभी आवाज़ निकला है क्योंकि अब विश्व में शान्ति हो रही है। आत्मा चाहती है कि विश्व में शान्ति होनी चाहिए। मनुष्य तो देह-अभिमान में होने कारण सिर्फ कहते रहते हैं – विश्व में शान्ति हो। 84 जन्म अब पूरे हुए हैं। यह बाप ही आकर समझाते हैं। बाप को ही याद करते हैं। वह कभी किस रूप में आकर स्वर्ग की स्थापना करेंगे, उनका नाम ही है हेविनली गॉड फादर। यह किसको भी पता नहीं है – हेविन कैसे रचते हैं। श्रीकृष्ण तो रच न सकें। उनको कहा जाता है देवता। मनुष्य देवताओं को नमन करते हैं। उनमें दैवी गुण हैं इसलिए देवता कहा जाता है। अच्छे गुण वाले को कहते हैं ना-यह तो जैसे देवता है। लड़ने-झगड़ने वाले को कहेंगे यह तो जैसे असुर है। बच्चे जानते हैं हम बेहद के बाप के सामने बैठे हैं। तो बच्चों की चलन कितनी अच्छी होनी चाहिए। अज्ञान काल में भी बाप का देखा हुआ है 6-7 कुटुम्ब इकट्ठे रहते हैं, एकदम क्षीरखण्ड हो चलते हैं। कहाँ तो घर में सिर्फ दो होंगे तो भी लड़ते-झगड़ते रहेंगे। तो तुम हो ईश्वरीय सन्तान। बहुत-बहुत क्षीरखण्ड हो रहना चाहिए। सतयुग में क्षीरखण्ड होते हैं, यहाँ क्षीरखण्ड होना तुम सीखते हो तो बहुत प्यार से रहना चाहिए। बाप कहते हैं अन्दर में जाँच करो हमने कोई विकर्म तो नहीं किया? किसको दु:ख तो नहीं दिया? ऐसे कोई बैठकर अपने को जाँचते नहीं। यह बड़ी समझ की बात है। तुम बच्चे हो विश्व में शान्ति स्थापन करने वाले। अगर घर में ही अशान्ति करने वाले होंगे तो शान्ति फिर कैसे करेंगे। लौकिक बाप का बच्चा तंग करता है तो कहेंगे यह तो मुआ भला। कोई आदत पड़ जाती है तो पक्की हो जाती है। यह समझ नहीं रहती कि हम तो बेहद के बाप के बच्चे हैं, हमको तो विश्व में शान्ति स्थापन करनी है। शिवबाबा के बच्चे हो अगर अशान्त होते हो तो शिवबाबा के पास आओ। वह तो हीरा है, वो झट तुमको युक्ति बतायेंगे-ऐसे शान्ति हो सकती है। शान्ति का प्रबन्ध देंगे। ऐसे बहुत हैं चलन दैवी घराने जैसी नहीं है। तुम अब तैयार होते हो गुल-गुल दुनिया में जाने। यह है ही गन्दी दुनिया वेश्यालय, इनसे तो ऩफरत आती है। विश्व में शान्ति होगी तो नई दुनिया में। संगम पर हो नहीं सकती। यहाँ शान्त बनने का पुरूषार्थ करते हैं। पूरा पुरूषार्थ नहीं करते तो फिर सज़ा खानी पड़ेगी। मेरे साथ तो धर्मराज है ना। जब हिसाब-किताब चुक्तु होने का समय आयेगा तो खूब मार खायेंगे। कर्म का भोग जरूर है। बीमार होते हैं, वह भी कर्मभोग है ना। बाप के ऊपर तो कोई नहीं है। समझाते हैं – बच्चे गुल-गुल बनो तो ऊंच पद पायेंगे। नहीं तो कोई फायदा नहीं। भगवान बाप जिसको आधाकल्प याद किया उनसे वर्सा नहीं लिया तो बच्चे किस काम के। परन्तु ड्रामा अनुसार यह भी होना है जरूर। तो समझाने की युक्तियाँ बहुत हैं। विश्व में शान्ति तो सतयुग में थी, जहाँ इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। लड़ाई भी जरूर लगेगी क्योंकि अशान्ति है ना। कृष्ण फिर आयेगा सतयुग में। कहते हैं कलियुग में देवताओं का परछाया नहीं पड़ सकता है। यह बातें तुम बच्चे ही अब सुन रहे हो। तुम जानते हो शिवबाबा हमको पढ़ाते हैं। धारणा करनी है, सारी आयु ही लग जाती है। कहते हैं ना-सारी आयु समझाया है फिर भी समझते नहीं हैं।

बेहद का बाप कहते हैं – पहले-पहले मुख्य चीज़ तो समझाओ – ज्ञान अलग और भक्ति अलग चीज़ है। आधाकल्प है दिन, आधाकल्प है रात। शास्त्रों में कल्प की आयु ही उल्टी लिख दी है। तो आधा-आधा भी हो नहीं सकते। तुम्हारे में कोई शास्त्र आदि पढ़े हुए नहीं हैं तो अच्छे हैं। पढ़े हुए होंगे तो संशय उठायेंगे, प्रश्न पूछते रहेंगे। वास्तव में जब वानप्रस्थ अवस्था होती है तब भगवान को याद करते हैं। कोई न कोई की मत से। फिर जैसे गुरू सिखलायेंगे। भक्ति भी सिखलाते हैं। ऐसे कोई नहीं जो भक्ति न सिखलायें। उनमें भक्ति की ताकत है तब तो इतने फालोअर्स बनते हैं। फालोअर्स को भक्त पुजारी कहेंगे। यहाँ सब हैं पुजारी। वहाँ पुजारी कोई होता नहीं। भगवान कभी पुजारी नहीं बनता। अनेक प्वाइंट्स समझाई जाती है, धीरे-धीरे तुम बच्चों में भी समझाने की ताकत आती जायेगी।

अभी तुम बतलाते हो कृष्ण आ रहा है। सतयुग में जरूर कृष्ण होगा। नहीं तो वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी कैसे रिपीट होगी। सिर्फ एक कृष्ण तो नहीं होगा, यथा राजा-रानी तथा प्रजा होगी ना। इनमें भी समझ की बात है। तुम बच्चे समझते हो हम तो बाप के बच्चे हैं। बाप वर्सा देने आये हैं। स्वर्ग में तो सभी नहीं आयेंगे। न त्रेता में सब आ सकते हैं। झाड़ आहिस्ते-आहिस्ते वृद्धि को पाता रहता है। मनुष्य सृष्टि रूपी झाड़ है। वहाँ है आत्माओं का झाड़। यहाँ ब्रह्मा द्वारा स्थापना, फिर शंकर द्वारा विनाश फिर पालना….. अक्षर भी यह कायदेसिर बोलने चाहिए। बच्चों की बुद्धि में यह नशा है, यह सृष्टि का चक्र कैसे चलता है। रचना कैसे होती है। अब नई छोटी रचना है ना। यह जैसे बाजोली है। पहले शूद्र हैं अनेक, फिर बाप आकर रचना रचते हैं – ब्रह्मा द्वारा ब्राह्मणों की। ब्राह्मण हो जाते हैं चोटी। चोटी और पैर आपस में मिलते हैं। पहले ब्राह्मण चाहिए। ब्राह्मणों का युग बहुत छोटा होता है। पीछे हैं देवतायें। यह वर्णों वाला चित्र भी काम का है। यह चित्र समझाने में बहुत इज़ी है। वैरायटी मनुष्यों का वैरायटी रूप है। समझाने में कितना मज़ा आता है। ब्राह्मण जब हैं तो सब धर्म हैं। शूद्रों से ब्राह्मणों का सैपलिंग लगता है। मनुष्य तो झाड़ के सैपलिंग लगाते हैं। बाप भी सैपलिंग लगाते हैं जहाँ विश्व में शान्ति हो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सदा स्मृति रखनी है कि हम हैं ईश्वरीय सन्तान। हमें क्षीरखण्ड होकर रहना है। किसी को भी दु:ख नहीं देना है।

2) अन्दर में अपनी जाँच करनी है कि हमसे कोई विकर्म तो नहीं होता है! अशान्त होने तथा अशान्ति फैलाने की आदत तो नहीं है?

वरदान:- ”एक बाप दूसरा न कोई” इस स्मृति से बंधनमुक्त, योगयुक्त भव
अब घर जाने का समय है इसलिए बंधनमुक्त और योगयुक्त बनो। बंधनमुक्त अर्थात् लूज़ ड्रेस, टाइट नहीं। आर्डर मिला और सेकण्ड में गया। ऐसे बंधनमुक्त, योगयुक्त स्थिति का वरदान प्राप्त करने के लिए सदा यह वायदा स्मृति में रहे कि ”एक बाप दूसरा न कोई” क्योंकि घर जाने के लिए वा सतयुगी राज्य में आने के लिए इस पुराने शरीर को छोड़ना पड़ेगा। तो चेक करो ऐसे एवररेडी बने हैं या अभी तक कुछ रस्सियां बंधी हुई है? यह पुराना चोला टाइट तो नहीं है?
स्लोगन:- व्यर्थ संकल्प रूपी एकस्ट्रा भोजन नहीं करो तो मोटेपन की बीमारियों से बच जायेंगे।

BRAHMA KUMARIS MURLI 18 SEPTEMBER 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

18-09-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – आत्मा और परमात्मा का यथार्थ ज्ञान तुम्हारे पास है, इसलिए तुम्हें ललकार करनी है, तुम हो शिव शक्तियां”
प्रश्नः- सबसे ऊंची मंज़िल कौन सी है, जिसका ही तुम बच्चे पुरुषार्थ कर रहे हो?
उत्तर:- निरन्तर याद में रहना – यह है सबसे ऊंची मंजिल। याद से ही कर्मभोग चुक्तू हो कर्मातीत अवस्था होगी। जिस मात-पिता से अपार सुख मिल रहे हैं, उनके लिये बच्चे कहते – बाबा, आपकी याद भूल जाती है! वन्डर है ना। देही-अभिमानी रहने का पुरुषार्थ चलता रहे तो याद भूल नहीं सकती।
गीत:- किसने यह सब खेल रचाया……. 

ओम् शान्ति। भगवानुवाच – बच्चे अपने बाप भगवान् को जानते हैं। अभी बच्चे आकरके बाप द्वारा आस्तिक बने हैं, क्योंकि बाप द्वारा बाप को जाना है इसलिए आस्तिक कहलाते हैं। तुमने जाना है बरोबर हम आत्मा हैं, वह हम आत्माओं का बाप है। भल कोई मनुष्य अपने को आत्मा समझते भी हों परन्तु परमात्मा को कोई नहीं जानते। जब बाप खुद आकर बच्चे पैदा करे और उनको अपना परिचय दे, तब जानें। बाप को ही अपना परिचय देना है। वह है आत्माओं का फादर। सम्मुख आकर बतलाते हैं कि तुम आत्मायें हो, मैं तुम आत्माओं का परमपिता हूँ। तुम निश्चय करते हो। यह तो कॉमन बात है। आत्माओं का बाप जरूर है। गायन भी है आत्मा और परमात्मा अलग रहे बहुकाल…….। बाप को बच्चे ही जानते हैं। बाप 5 हजार वर्ष बाद फिर आये हुए हैं। जब सब बच्चे नास्तिक दु:खी बन जाते हैं, एक भी आस्तिक नहीं रहता है तब बाप आते हैं। आस्तिक बनाकर फिर छिप जाते हैं। फिर कोई भी बाप को जानते नहीं। अब तुम बच्चों में यह निश्चय नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार है। सबको पूरा निश्चय नहीं है। भल यहाँ सम्मुख बैठे हैं, जानते हैं परमपिता परमात्मा, पतित-पावन बाप पतित से पावन देवता बना रहे हैं। देवताओं की तो यहाँ सिर्फ मूर्तियां हैं। खुद तो हैं नहीं। जो भी मनुष्य मात्र हैं, सिवाए तुम ब्राह्मणों के, और कोई भी आत्मा और परमात्मा को नहीं जानते। हम सो परमात्मा कह देने से न आत्मा को, न परमात्मा को जानते। तुम बच्चे जानते हो कि एक भी मनुष्य नहीं जो अपने को यथार्थ रीति आत्मा समझ और परमात्मा को अपना बाप समझें। लेकिन अब यह ललकार कौन करें? शक्तियों ने ही ललकार की थी। परन्तु अभी तक वह शक्ति आई नहीं है जो तुम्हारे में आनी चाहिए। शिव शक्तियां तो मशहूर हैं, नामीग्रामी हैं। जगत अम्बा भी शक्ति है। अब कॉन्फ्रेन्स में रिलीजस हेड्स सब आते हैं, उन्हें भी समझाना है।

बाप समझाते हैं – बच्चे, तुमको तो देही-अभिमानी बनना है। हम आत्मा हैं, परमपिता परमात्मा से वर्सा ले रहे हैं – यह निश्चय नहीं है, कोई संशय है तो ऊंच पद पा नहीं सकेंगे। अच्छे-अच्छे बच्चे भी चलते-चलते माया का तूफान लगने से गिर पड़ते हैं। निश्चयबुद्धि से संशयबुद्धि हो पड़ते हैं। नहीं तो बच्चे कभी भी संशयबुद्धि नहीं होते हैं कि हमारा यह बाप नहीं है। यहाँ यह वन्डर है। कहते भी हैं परमपिता परमात्मा हम सब आत्माओं का बाप है, वह हमको पढ़ाते हैं फिर भी बाप को भूल जाते हैं। रोज़ समझाते रहते हैं – बच्चे, अपने बाप को याद करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। विकर्म तो जन्म-जन्मान्तर के सिर पर बहुत हैं। तुम जानते हो मम्मा-बाबा, जिसको ब्रह्मा-सरस्वती कहते हो, वह नम्बरवन में हैं। वह भी खुद कहते हैं – इतना योग लगाते हैं, मेहनत करते हैं तो भी अनेक जन्मों के पाप कटे नहीं हैं। कुछ न कुछ भोगना पड़ता है। अन्त में इस भोगना से छूट कर्मातीत अवस्था को पाना है। पुरुषार्थ करना है। माया भी कम रुसतम नहीं है, दोनों ही सर्वशक्तिमान हैं। रावण माया ने सब मनुष्य मात्र को पतित बना दिया है। गाते भी हैं पतित-पावन, तालियां बजाते रहते हैं, तो जरूर पतित हैं ना परन्तु अपने को समझते नहीं हैं कि हम पतित हैं। यह समझाना भी जरूरी है कि अब यह पतित दुनिया है। पावन दुनिया सतयुग को कहा जाता है। पावन दुनिया में ऐसे पतित-पावन को नहीं बुलायेंगे। वहाँ तो भारत बहुत सुखी था, एक ही धर्म था। अभी तुम जानते हो परमपिता परमात्मा ज्ञान सागर है, वह इन सब वेदों-शास्त्रों आदि के राज़ को जानते हैं। वही पढ़ा रहे हैं परन्तु कोई-कोई ऐसे हैं जो यह भी भूल जाते हैं कि हमको परमात्मा पढ़ाते हैं। बेहद का बाप हमें पढ़ाते हैं, वह नशा नहीं चढ़ता। यहाँ से बाहर घर जाने से नशा चकनाचूर हो जाता है। कोई मुश्किल हैं जो युक्तियुक्त पुरुषार्थ करते हैं। माया बड़ी जबरदस्त है। देह-अभिमान तो नम्बरवन है। बाबा ने समझाया है अपने को देही समझो। हम आत्मा हैं, इस शरीर द्वारा हम कर्म करते हैं। अपने को परमात्मा तो कभी नहीं समझना है। बाप कहते हैं मैं तुमको पतित से पावन बनाने आया हूँ। मुझे घड़ी-घड़ी याद करो। परन्तु बहुत अच्छे-अच्छे बच्चे भी बाप को याद नहीं करते हैं और फिर सच भी नहीं बतलाते हैं। चार्ट जो लिखकर भेजते हैं, उसमें भी झूठ। सच्चा चार्ट लिखते नहीं। बाबा समझाते हैं अपने को आत्मा समझो, हम आत्मा 84 जन्म पूरे कर अब बाबा के पास जाती हूँ। सवेरे उठकर बाबा को याद करो तो उसका नशा सारा दिन रहेगा। मनुष्य धन कमाते हैं तो नशा रहता है ना कि आज इतना कमाया। यह भी धन्धा है, व्यापार है तो उसमें कितनी मेहनत करनी चाहिए। बाबा अपना अनुभव बतलाते हैं, कितनी मेहनत करते हैं। सवेरे उठकर अपने से बातें करनी है। अब पार्ट पूरा हुआ, अभी हम गये कि गये, फिर 21 जन्म राज्य करना है। कितना मीठा, कितना प्यारा वन्डरफुल बाबा है। ऐसे बाप को कोई भी मनुष्य मात्र जानते नहीं हैं। बाप आकर बच्चों को अपने से भी ऊंच ले जाते हैं और बच्चे फिर बाप को सर्वव्यापी कह अपने से भी नीचे ले गये हैं इसलिए बाप कहते हैं तुम बहुत दु:खी बन पड़े हो। मैं तुम बच्चों को ब्रह्माण्ड और विश्व दोनों का मालिक बनाता हूँ और फिर तुम बच्चे मुझ बाप को सर्वव्यापी कह देते हो। यह भी ड्रामा में खेल है। अब बाप डायरेक्शन देते हैं – ऐसे-ऐसे समझाओ।

लक्ष्मी-नारायण आदि देवी-देवतायें 100 परसेन्ट सालवेन्ट बुद्धि थे, अभी नहीं हैं। फ़र्क देखो कितना है – कहाँ भारत स्वर्ग था, अभी नर्क है। यह ज्ञान कोई भी मनुष्य में नहीं है। तुम बच्चों में भी वह ताकत नहीं है। देह-अभिमान बहुत है। देही-अभिमानी को तो धारणा होनी चाहिए। बाप डायरेक्शन देते हैं – ऐसे-ऐसे ललकार करो। आत्मा क्या है, परमात्मा क्या है – कोई को पता नहीं है। तुम जानते हो हम आत्मा बिन्दी हैं, हमारा बाप परमपिता परमात्मा भी बिन्दी है। वह नॉलेजफुल, पतित-पावन है। जन्म-मरण में नहीं आते हैं। हम आत्मायें जन्म-मरण में आती हैं। परमपिता परमात्मा कहते हैं मेरा भी पार्ट है, मैं आता हूँ, तुम सबको सुखी बनाकर फिर निर्वाणधाम में बैठ जाता हूँ। मनुष्य बूढ़े होते हैं तो वानप्रस्थ में चले जाते हैं, परन्तु अर्थ नहीं समझते। वानप्रस्थ माना वाणी से परे स्थान। वह थोड़ेही वाणी से परे बैठते हैं। अभी वानप्रस्थी तो सब हैं। हम आत्मायें वाणी से परे रहने वाली हैं। परन्तु उस स्थान को भी जानते नहीं। तुम्हारे में भी कोई-कोई की बुद्धि में यह बातें हैं। देह-अभिमान बहुत है। बाप को फालो नहीं करते हैं। माया भी बहुत प्रबल है। आत्मा और परमात्मा के संबंध को कोई भी नहीं जानते हैं। बाप के संबंध को ही नहीं जानते। तुम भी घड़ी-घड़ी भूल जाते हो। बाप का बनकर बाप को पूरा याद करना चाहिए ना। कहते हैं – बाबा, घड़ी-घड़ी याद करना भूल जाता हूँ। अरे, तुम मात-पिता को याद करना भूल जाते हो! निरन्तर याद करने की ही मंजिल है, जिस मात-पिता से स्वर्ग का वर्सा ले रहे हो, तुम उनको भूल जाते हो! वन्डर है। मात-पिता तो एक ही है। बाप कहते हैं मैं ही तुम्हारा मात-पिता हूँ। यह हैं बड़ी गुह्य बातें। कई समझते हैं जगत अम्बा माता है, परन्तु नहीं वह तो साकारी है ना। तुम मात-पिता गाते हो निराकार को। यह सब बातें पहले नहीं बतलाते थे। दिन-प्रतिदिन गुह्य बातें सुनाई जाती हैं। कोई भी बात न समझा सको तो बोलो – बाबा ने अजुन सुनाया नहीं है, बाप से पूछेंगे। दिन-प्रतिदिन बहुत नई-नई प्वाइंट्स मिलती रहती हैं। नॉलेज तो बहुत बड़ी है। समझने वाले कोई समझें। पढ़ते-पढ़ते थक जाते हैं। बाबा को लिखते हैं – मैं नहीं चल सकूंगा, तंग हो गया हूँ। तंग होकर पढ़ाई को छोड़ देते हैं। विकार में जाते हैं तो पढ़ाई छूट जाती है। यह पढ़ाई ब्रह्मचर्य की धारणा से ही होगी। अगर ब्रह्मचर्य को तोड़ा तो धारणा नहीं हो सकेगी। दूसरे को कह नहीं सकेंगे कि काम महाशत्रु है। बुद्धि का ताला ही बन्द हो जाता है। मंज़िल बहुत ऊंची है।

सन्यासी तो गृहस्थ धर्म को छोड़ भाग जाते हैं। वो हैं हठयोगी सन्यासी, यह है राजयोग। बाप ही आकर राजयोग सिखलाते हैं। हठयोगी कभी राजयोग नहीं सिखला सकेंगे। यह बात पूरा समझाने का ढंग नहीं आया है। उन्हों का है हठयोग सन्यास। वह पतित को पावन बना नहीं सकते। तुम्हारा है बेहद का सन्यास, वह है हद का सन्यास। तुम्हारी बुद्धि में है कि हमारे 84 जन्म पूरे हुए, अब हम वापिस जाते हैं। यह बेहद का सन्यास बुद्धि से किया जाता है। उनका है हठयोग कर्म सन्यास। तुम्हारा है राजयोग, कर्मयोग, जो भगवान् ने सिखलाया है। अभी तुम अच्छी रीति समझा सकते हो कि वह है हठयोग और यह है राजयोग। शिव को भी कोई समझते नहीं हैं। जैसे आत्मा बिन्दी है, वैसे शिव भी बिन्दी है। बिन्दी का निशान भी भ्रकुटी में ही दिया जाता है और कोई जगह बिन्दी नहीं देंगे। भ्रकुटी में ही बिन्दी दी जाती है। आत्मा भी यहाँ ही निवास करती है – यह किसको पता नहीं है। इतनी छोटी बिन्दी में 84 जन्मों का अविनाशी पार्ट नूंधा हुआ है, यह कितनी डीप बातें हैं। कोई को समझाने नहीं आयेंगी। रीयल्टी में समझाना है। जैसे आत्मा बिन्दी है, वैसे परमात्मा भी बिन्दी है। अगर दूसरी आत्मा आयेगी तो वह भी बाजू में आकर बैठेगी ना। ब्राह्मण में आत्मा को बुलाते हैं, आत्मा आकर बोलती है – हमने फलानी जगह जन्म लिया है, तो वह आत्मा कहाँ आकर बैठेगी? क्या माथे में? उनमें अपनी भी आत्मा है ना। बाप कहते हैं मैं भी बिन्दी हूँ, मुझे परमपिता परम आत्मा कहते हैं। उनकी महिमा बड़ी भारी है। शिवाए नम: …. यह किसने महिमा की? आत्मा सालिग्राम ने, तो जरूर वह अलग है। दुनिया इन बातों को नहीं जानती, तुम जानते हो उनका एक ही नाम शिव है। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर को ब्रह्मा देवताए नम:, विष्णु देवताए नम: कहेंगे। उनको शिव परमात्माए नम: कहेंगे। तो शिव ऊंच ठहरा ना। यह बातें तुम समझ सकते हो। यह नॉलेज भी तुमको अभी है। तुम्हारा यह हीरे जैसा जन्म है। देवतायें तो प्रालब्ध भोगते हैं। यह प्रालब्ध देने वाला बाप वन्डरफुल है। ऐसे पारलौकिक बाप का कितना रिगॉर्ड रखना चाहिए। बुद्धियोग इस ब्रह्मा में नहीं, उनमें रखना है। वह बाप पढ़ाते हैं इस द्वारा, यह शरीर लोन लिया है। सारी सृष्टि में कितना बड़ा मेहमान है। शिवबाबा परमधाम से आते हैं। कितना बड़ा भारत का मेहमान है। कहाँ से आया हुआ है? उन मिनिस्टर आदि की कितनी इज्जत होती है। यह गुप्त वेश में कितना बड़ा मेहमान पतित को पावन बनाने आया है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सवेरे-सवेरे उठ याद में बैठ कमाई जमा करनी है। अपने आप से बातें करनी हैं। देही-अभिमानी रहना है।

2) राजयोग, कर्मयोग सीखना और सिखलाना है। कभी भी तंग होकर पढ़ाई नहीं छोड़नी है। बाप का रिगार्ड जरूर रखना है।

वरदान:- महावीर बन बाप का साक्षात्कार कराने वाले वाहनधारी सो अलंकारधारी भव
महावीर अर्थात् शस्त्रधारी। शक्तियों वा पाण्डवों को सदा वाहन में दिखाते हैं और शस्त्र भी दिखाते हैं। शस्त्र अर्थात् अलंकार। वाहन है श्रेष्ठ स्थिति और अलंकार हैं सर्व शक्तियां। ऐसे वाहनधारी और अलंकारधारी ही साक्षात्कार मूर्त बन बाप का साक्षात्कार करा सकते हैं। यही महावीर बच्चों का कर्तव्य है। महावीर उसे ही कहा जाता है जो अपनी उड़ती कला द्वारा सर्व परिस्थितियों को पार कर ले।
स्लोगन:- एकरस पुरुषार्थ द्वारा ऊंची स्थिति बना लो तो हिमालय जैसा बड़ा पेपर भी रूई हो जायेगा।

TODAY MURLI 18 SEPTEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

18/09/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have accurate knowledge of the soul and the Supreme Soul. Therefore, you have to issue the challenge that you are the Shiv Shaktis.
Question: What is the highest destination of all for which you children are making effort?
Answer: To stay constantly in remembrance is the highest destination of all. It is only by having remembrance that your suffering of karma will be settled and you will reach your karmateet stage. Children say to the Mother and Father from whom they receive limitless happiness: Baba, we forget to remember You. This is a wonder. If you make effort continuouslyto remain soul conscious, you cannot forget Baba.
Song: Who created this play and hid Himself away? 

Om shanti. God speaks. You children know your Father, God. You children have now been made theists by the Father. You have come to know the Father from the Father and this is why you are called theists. You know that you really are souls and that He is the Father of you souls. Although people consider themselves to be souls, no one knows the Supreme Soul. Only when the Father Himself comes and creates children and gives them His introduction can they know Him. The Father Himself has to give His own introduction. He is the Father of all souls. He comes here face to face and says: You are souls and I am the Supreme Father of you souls. You have this faith. This is something common. There is definitely the Father of souls. It is sung that souls and the Supreme soul remained separated for a long time. Only you children know the Father. Once again, after 5000 years, the Father has come. When all the children have become atheists and sorrowful and not a single soul remains a theist, the Father comes. He makes you into theists and then hides away. Then, no one knows the Father. You children now have faith, numberwise, according to the effort you make. Although you may be sitting here personally and you do know that the Supreme Father, the Supreme Soul, the Purifier Father, is making you into pure deities from impure beings, not all of you have full faith. There are just the images of the deities here; they are not here themselves. No human beings, apart from you Brahmins, knows about the soul and the Supreme Soul. When souls say that they are the Supreme Soul, they neither know the soul nor the Supreme Soul. You children know that not a single human being considers himself to be a soul and God to be his Father accurately. However, who would issue this challenge? It was you Shaktis who issued this challenge, but you still haven’t taken the power you should have taken. Shiv Shaktis are very well known. Jagadamba is also a Shakti. All the religious heads now come to conferencesand you have to explain to them too. The Father explains: Children, you have to become soul conscious. You are souls and you are claiming your inheritance from the Supreme Father, the Supreme Soul. So long as you don’t have this faith and have doubts, you won’t be able to claim a high status. Even good children experience storms of Maya while moving along and fall. From having faithful intellects, they become those who have doubt in their intellects. Otherwise, children would never have doubt in their intellects about whether someone is their father. Here, this is a wonder. They say that the Supreme Father, the Supreme Soul, is the Father of all of us souls. He is teaching us and yet we forget the Father. He continues to explain every day: Children, remember your Father and your sins will be absolved. You have a lot of sins of many births on your heads. You know that Mama and Baba, who are called Saraswati and Brahma, are number one. They themselves say: We have so much yoga and make so much effort and yet our sins of many births have not been cut away; there is one suffering or another to be settled. At the end, you will reach your karmateet stage and become free from this suffering. You have to make effort. Maya, too, is no less powerful. Both are almighty authorities. Maya, Ravan has made all human beings impure. They sing: Oh! Purifier! They continue to clap. So they are surely impure, but they don’t consider themselves to be impure. You definitely have to explain that this world is now impure. The golden age is called the pure world. You would not call out to the Purifier in this way in the pure world. There, when there was just the one religion, Bharat was very happy. You now know that the Supreme Father, the Supreme Soul, is the Ocean of Knowledge and that He knows all the secrets of the Vedas and scriptures etc. He Himself is teaching us, but some are such that they forget that the Supreme Soul is teaching them, that the unlimited Father is teaching them. That intoxication doesn’t rise. When you leave here and go home, that intoxication is completely crushed. It is with difficulty that anyone makes accurate effort. Maya is very powerful. Body consciousness is number one. Baba has explained: Consider yourself to be a soul. We are souls and we act through these bodies. You must never consider yourself to be the Supreme Soul. The Father says: I have come to make you pure from impure. Repeatedly remember Me. However, many very good children don’t remember the Father and they don’t even tell the truth. The chart they write and send to Baba also has lies. They don’t write honest charts. Baba says: Consider yourself to be a soul. We souls have completed our 84 births and are now going to Baba. Wake up early in the morning and remember Baba and that intoxication will then remain throughout the day. When people earn money, they have the intoxication of how much they earned on that day. This too is a business and so you should make so much effort in this. Baba tells you his own experience of how much effort he makes. You have to wake up early in the morning and talk to yourself: Our parts have now ended and we are about to go back and then rule the kingdom for 21 births. Baba is so sweet, so lovely and so wonderful. No human being knows such a Father. The Father comes and makes you children even higher than Himself and yet some children then say that the Father is omnipresent and bring Him down even further than themselves. This is why the Father says: You have become very unhappy. I make you children into the masters of Brahmand and the world and then you say that I, your Father, am omnipresent! This is also a play within the drama. The Father is now giving you directions on how to explain. Lakshmi and Narayan, the first deities, had one hundred percent solvent intellects, but they are not like that any more. Look how much difference there is. At first Bharat was heaven and now it is hell. No human being has this knowledge. You children do not have strength; there is a lot of body consciousness. Those who are soul conscious should have dharna. The Father gives you directions: Challenge them in this way. No one knows what a soul is or what the Supreme Soul is. You know that we souls are points and that our Father, the Supreme Father, the Supreme Soul, is also a point. He is knowledgefull and the Purifier. He doesn’t enter the cycle of birth and death. We souls enter the cycle of birth and death. The Supreme Father, the Supreme Soul, says: I too have a part. I come and make all of you happy and I then go and sit in the land of nirvana. When people become old, they retire, but they don’t understand the meaning of that. To retire means to go to the land beyond sound. They don’t sit beyond sound. Now, all are in the stage of retirement. We souls reside beyond sound, but people don’t know about that place. Among you too, only some of you have these things in your intellects. There is a lot of body consciousness. You don’t follow the Father. Maya is also very powerful. No one knows about the relationship between souls and the Supreme Soul. They don’t know about the relationship with the Father. You too repeatedly forget it. After belonging to the Father, you should remember Him fully. You say: Baba, I repeatedly forget to remember You. Oh really! You forget to remember the Mother and Father! The destination is to stay constantly in remembrance. You forget the Mother and Father from whom you are claiming your inheritance of heaven! It is a wonder! The Mother and Father are only the One. The Father says: I alone am your Mother and Father. These are very deep things. Some think that Jagadamba is the Mother, but no; she is a corporeal being. You used to sing to the incorporeal One: You are the Mother and Father. Baba didn’t tell you all of these things in the beginning. Day by day, you are told deep things. If you are unable to explain something, then tell them: Baba hasn’t yet explained these things to us, and so we will ask Him. Day by day, you receive many new pointsKnowledge is vast. Those who are to understand will understand. Some become tired while studying. They write to Baba: I am unable to continue here. I am fed up! They become fed up and stop studying. When they indulge in vice, they stop studying. This study can only take place in celibacy. If you break celibacy, you aren’t able to imbibe anything. You wouldn’t be able to tell others that lust is the greatest enemy. The intellect becomes locked. The destination is very high. Sannyasis leave their household religion and run away. They are hatha yogi sannyasis whereas this is Raja Yoga. The Father alone comes and teaches you Raja Yoga. Hatha yogis can never teach Raja Yoga. You haven’t yet learnt the art of how to explain this fully. Theirs is hatha yoga renunciation. They cannot make impure ones pure. Yours is unlimited renunciation whereas theirs is limited renunciation. It is in your intellects that your 84 births have now ended and that you are now to return home. You have this unlimited renunciation in your intellects. Theirs is hatha yoga, renunciation of karma. Yours is Raja Yoga and karma yoga which God is teaching you. You can now explain very well that that is hatha yoga and that this is Raja Yoga. No one understands about Shiva. Just as a soul is a point, so Shiva too is a point. The sign of the point is applied to the forehead. The point would not be applied anywhere else. The point (tilak) is only applied to the forehead. That is where each soul resides, but no one knows this. Such a tiny soul has an imperishable part of 84 births fixed within him. These are such deep matters. No one else would know how to explain these things. You have to explain the reality. Just as a soul is a point, so the Supreme Soul is also a point. If another soul enters a body, he would come and sit next to this one. When a departed soul is invoked into a brahmin priest, that soul comes and says: I have taken birth at such-and-such a place. So, where would that soul come and sit? Would it sit in his head? He (the brahmin) already has his own soul. The Father says: I too am a point. I am called the Supreme Father, the Supreme Soul. His praise is great. Who sang the praise: Salutations to Shiva? Souls, the saligrams. So, surely, souls are separate. The world doesn’t know these things. You know that He only has the one name, Shiva. You would say to Brahma, Vishnu and Shankar: “Salutations to the deity Brahma, Salutations to the deity Vishnu”, whereas to Him you would say, “Salutations to the Supreme Soul, Shiva.” Therefore, Shiva is higher. You can understand these things. It is now that you have this knowledge. This birth of yours is as valuable as a diamond. Deities simply experience their reward. That Father, who gives you the reward, is wonderful. You should have so much regard for the Father from beyond. Your intellects’ yoga should not be connected to Brahma, but to that One. That Father is teaching you through this one. He has taken this body on loan. He is such a great Guest of the whole world. Shiv Baba comes from the supreme abode. He is such an important Guest of Bharat. Where has He come from? They honour those Ministers etc. so much. Such an important Guest has come in an incognito form to make impure ones pure. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Wake up early in the morning, sit in remembrance and accumulate an income. Talk to yourself. Remain soul conscious.
  2. Study and teach others Raja Yoga and karma yoga. Never become fed up and thereby stop studying. Definitely have regard for the Father.
Blessing: May you be seated on a vehicle, holding the ornaments and grant a vision of the Father by becoming a mahavir.
A mahavir means one who hold a weapon. Shaktis and Pandavas are always shown seated on a vehicle of something and they are also shown holding a weapon. The weapon is their ornament. The vehicle is the elevated stage and the ornaments are all the powers. Only those who are seated on their vehicle and are holding their ornaments can become images that grant visions and grant a vision of the Father. This is the duty of the mahavir children. A mahavir is one who with his flying stage is able to overcome all adverse situations.
Slogan: Make your stage elevated with your steady and constant efforts and a paper as big as the Himalayan mountains will become like cotton wool.

*** Om Shanti ***

TODAY MURLI 18 SEPTEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 18 SEPTEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 17 September 2017 :- Click Here

18/09/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, give everyone the Father’s introduction and make them into bestowers of happiness. Become soul conscious so that your time continues to be used in a worthwhile way and you will be saved from performing sinful actions.
Question: Which words emerge from the lips of the children whose intellects have been locked by Maya?
Answer: The words that emerge from their lips are: We have a direct connection with Shiv Baba. Because of the influence of bad company, their intellects become foolish. They become those who defame the Satguru. When some people say that they have a direct connection with Baba, they also should to be able to hear the murli through inspiration! Such children who defame the Father cannot reach their destination. Maya locks their intellects.

Om shanti. You children have now become soul conscious. Baba has made you soul conscious. The more soul conscious you become and the more you remember the Father very well, the more you will become conquerors of sinful actions. Your sins will not be burnt by being body conscious and you will continue to perform even more sins. What would be the consequence of that? Firstly, there will have to be punishment and then the status will be destroyed. Anyone can ask Baba: Baba, if I were to shed my body at this time, what would be my state in the future? Death is just ahead. Those who are the decoration of the Brahmin clan should not feel the slightest sorrow. Such souls are called mahavirs (brave warriors). In the scriptures they have taken everything physically. These are things of knowledge. You children know that incorporeal Shiv Baba has given the full introduction of souls and of the parts that are recorded in souls. The Father Himself sits here and explains. Human beings are not soul conscious. They don’t know the Father of souls accurately. Therefore, this is called extreme darkness. The iron age is called extreme darkness and the golden age is called extreme light. All souls are ugly, that is, there is now a blackout. In the golden age, the deity souls were in light. Deepmala (festival of lights) is celebrated in Bharat. You souls know that you are in extreme darkness. The Father takes you into extreme light. Souls don’t know anything about how many births they take or how they take them. You now know this. We have now received the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world from the Father. No one in the world would be able to tell you the knowledge of the beginning, the middle or the end of the world. They neither know the soul nor the Supreme Soul. Although they say that they are souls, they don’t know what that is. There is a soul sparkling in the centre of the forehead, but so what? What part is recorded within him? How many births does he take? No one has this knowledge. The Father comes and explains and enables you to have self-realisation. Ask anyone who the Father of souls is! Some would say that it is Shri Krishna and others would say that it is Mahavir. We are souls and our Father is incorporeal Father Shiva. Not a single one of them could say this. They neither know the Creator nor the beginning, the middle or the end of creation. Therefore, they are called atheists. The Father says: You were atheists and shudras. You have now become theist Brahmins. The Father gives the introduction of the part He plays. No one else can give the Father’s introduction. No one can explain what part the Father has. You too understand it, numberwise. Because of becoming soul conscious, your stage remains good. Then, by becoming body conscious, you begin to gossip. This is why you cannot claim a high status and your sins are not absolved. The Father explains very clearly. The meaning of ‘dying alive’ is so easy! You have died alive. Consider yourself to be a soul and continue to remember the Father. I, the soul, have a part of 84 births recorded in me. You know this and you also know how the Father is the Ocean of Knowledge and the Purifier. Bharat alone was pure and elevated and it is now impure. However, no one considers himself to be impure. You children now know that you were previously useless! All are dead; everything is a graveyard. You are now once again becoming the masters of the land of angels. Bharat was the land of angels and it is now a graveyard. Everyone continues to cause sorrow for one another. The Father says: Now, continue to give everyone the Father’s introduction and make them into bestowers of happiness. Because of not becoming soul conscious, you continue to waste time ; you repeatedly become body conscious. You children should now not feel any sorrow. Some become very unhappy. Some understand that Baba is establishing the kingdom of Rama and that the kingdom of Ravan is to be destroyed. There is nothing to be afraid of in this. Yes, if the Government asks you to vacate a building, you have to do that. It is good if you even shed your body in remembrance of Baba. Always remain ready. Maya attacks even good children. Some become such fools that they say they have a directconnection with Shiv Baba. However, you definitely do have to come in front of Brahma. OK, you may also go and sit at home, but how would you hear the murli? What would you do? Some say that this Brahma is also an effort-maker and that they too are effort-makers. You are studying with Shiv Baba but you will only be able to hear Him if you come to Brahma. Otherwise, demonstrate it by hearing something through inspiration! Sometimes, Baba even puts a stop to some receiving the murli. They took birth through Brahma and then died and everything was finished. How will they claim their inheritance? There are even those with such foolish intellects that they become wrongly influenced by bad company. So, what would then be their state? If someone defames the Satguru, he cannot claim a high status. They speak of Guru Brahma. They wouldn’t say Guru Vishnu or Guru Shankar; only Brahma is the guru. You mothers also become gurus. Have you become this through the Satguru or through iron-aged gurus? You have become Brahmins and yours is a spiritual pilgrimage. This takes effort. Maya locks the intellects of some and so they continue to say wrong things. They continue to waste their time. Achcha.

BapDada’ s versions f rom a hand-written copy by Baba:

Versions of Incorporeal God Shiva, the Ocean of Knowledge, the Purifier, spoken through His chariot Prajapita Brahma to the decoration of the Brahmin clan, to all the Brahma Kumars and Kumaris, the mouth-born creation of Brahma:

O children, it has been explained to you that the Purifier has to come into the impure world and enter an impure body. Which impure body is that? It is of the one who has been around the cycle of the full 84 births and is now in his last birth. The first birth was that of the pure Shri Krishna and Shri Radhe who, after their marriage, became Shri Lakshmi and Shri Narayan. That deity religion doesn’t exist now; there is a lot of irreligiousness. The Father has now come once again and is establishing that same golden-aged deity religion. In the form of souls, the children who are the mouth-born creation of Prajapita Brahma and who are called Brahmins, are brothers. They are then adopted through Brahma and become brothers and sisters. Brahma Kumars and Kumaris have to claim their inheritance from the Supreme Father, the Supreme Soul. Shiv Baba says to His children (souls): Now become soul conscious and remember Me, your unlimited Father. Then, through this fire of yoga or this remembrance, the burden of the sins of many births that are on your heads will be burnt away. Renounce arrogance of the body, have the faith that you are a soul and remember Me, the unlimited Supreme Father and you will once again become pure and satopradhan. In the copper age, when the kingdom of Ravan is established, souls that were like real gold and called goldenaged and satopradhan began to become ironaged, they become tamopradhan by the end. That is, those who were pure in the golden age have become impure in the iron age. Now, in order to become pure, the people of Bharat especially remember the Purifier Father because My incarnation takes place through this lucky chariot of Brahma. This lucky chariot initially has a different name and I make him belong to Me. I enter him and name him Prajapita Brahma. According to the drama, I created Brahmins through Prajapita Brahma in the previous cycle too and made impure Bharat into pure Bharat through the Brahma Kumars and Kumaris and then, at the end of the cycle, when souls have completed the cycle of 84 births and become impure, I have to come once again to purify this impure world. Every cycle, that is, every 5000 years, everyone on the path of devotion remembers Me, the Supreme Father of all, the Supreme Soul. Then I come at the end, when the path of devotion ends. From the copper age, there is the path of devotion, the path of descent. Because of Ravan, that is, because of the five vices, it is everyone’s stage of descent and all human beings have become impure and degraded. Then I become the Father, Teacher and Satguru of the decoration of the Brahmin clan. I don’t have a father, teacher or guru. I am the Father of the devilish community of Bharat which was the deity community in the golden age. However, in order to make them into sun-dynasty deities once again, I become the Teacher of those who become Prajapita Brahma Kumars and Kumaris, exactly as I did in the previous cycle. I give them the true knowledge. I give them the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world cycle and make them trikaldarshi so that the sun dynasty, the deity self-sovereignty of the rulers of the globe, can be established, numberwise, according to the effort they make, exactly as in the previous cycle. It is explained and proved to you children that, at this time, you are the most elevated mouth-born creation of Brahma, the decoration of the Brahmin clan. This clan is more elevated than the deity clan because you now belong to God’s clan. Five thousand years ago Bharat became heaven, elevated Paradise and the deity self-sovereignty. At that time, you were sun-dynasty deities and you then went into the warrior, merchant and shudra clans. You have now become Brahmins through Prajapita Brahma. This is called the cycle of 84 births. Not everyone takes 84 births. Later, the other innumerable religions and cults continued to be established and the world population continued to grow. In fact, Prajapita Brahma is the foundation of the human world tree which is also called the kalpa tree. That is, Shiv Baba is the Baba of all human beings. He is the Father and Brahma is the grandfather. The first human being of the human world tree or genealogical tree is Adam, Aadam or Prajapita Brahma. Prajapita Brahma and the mouth-born creation go into extreme happiness, into extreme light, through Me, the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva, by studying easy Raja Yoga and knowledge. It is remembered: When the Sun of Knowledge rises… Only the Purifier, the Supreme Father, the Supreme Soul, is called the Sun of Knowledge. You are in the light of knowledge whereas all others are in the darkness of ignorance. You children have heard the knowledge and, as soon as you said “Baba”, you claimed your inheritance. Firstly you have to remember the Father and secondly the world cycle. There isn’t any other difficulty. The Father knows that you children have faced a lot of difficulty on the path of devotion. What other difficulty would He give to you children now? The more effort you made on the path of devotion, the more silent you have to remain here. The more you stay in yoga, the more your sins will be absolved. It is said: You are the Mother and Father…. At this time all other physical parents, brothers, friends etc. only cause sorrow. This One gives everyone happiness. He makes them constantly happy. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Maintain the happiness that you are the most elevated, the highest decoration of the Brahmin clan. Remain constantly cheerful by remaining aware that you have found God Himself in the form of the Father, the Teacher and the Guru.
  2. Don’t feel sorrow about anything. Don’t waste your time gossiping.
Blessing: May you be full of good wishes and experience the avyakt stage by finishing all opposingfeelings.
In life, the basis of the flying stage and the descending stage are two things: Feelings and intentions. Benevolent feelings for all, the feeling of giving love and co-operation, the feeling of increasing courage and enthusiasm, the feeling of soul-consciousness and the feeling of belonging are good wishes. Only those who have such feelings are able to remain stable in the avyakt stage. If there are feelings opposing these feelings, then those gross feelings will attract you. The main reason for any obstacle are contradictory feelings.
Slogan: Maya is a paper tiger in front of those who have the Almighty Authority Father with them.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

Read Bk Murli 16 September 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 18 SEPTEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 18 September 2017

September 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 17 September 2017 :- Click Here
18/09/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – सबको बाप का परिचय दे सुखदाई बनाओ, देही-अभिमानी बनो तो टाइम सफल होता रहेगा, विकर्मों से बचे रहेंगे”
प्रश्नः- जिन बच्चों की बुद्धि को माया ताला लगा देती है – उनके मुख से कौन से बोल निकलते हैं?
उत्तर:- उनके मुख से यही बोल निकलते हैं कि हमारा तो डायरेक्ट शिवबाबा से कनेक्शन है। संगदोष के कारण उनकी मूढ़बुद्धि हो जाती है। सतगुरू का निंदक बन पड़ते हैं। जब कोई कहते हमारा डायरेक्ट कनेक्शन है तो उन्हें मुरली भी प्रेरणा से सुननी चाहिए। ऐसे निंदक बच्चे ठौर नहीं पाते। उनकी बुद्धि को माया ताला लगा देती है।

ओम शान्ति। अभी तुम बच्चे आत्म-अभिमानी बने हो। बाबा ने देही-अभिमानी बनाया है। जितना देही-अभिमानी बनेंगे, बाप को अच्छी रीति याद करेंगे तो विकर्माजीत बनेंगे। देह-अभिमानी बनने से विकर्म भस्म नहीं होंगे और ही जास्ती विकर्म होते रहेंगे फिर नतीज़ा क्या होगा? एक तो सजा खानी पड़ेगी और पद भी भ्रष्ट हो जायेगा। बाबा से कोई भी पूछ सकते हैं कि बाबा अगर इस समय हमारा शरीर छूट जाए तो भविष्य में हम किस गति को पायेंगे? मौत तो सामने खड़ा है। ब्राह्मण कुल भूषण को तो बिल्कुल ह्रास (दु:ख) नहीं आना चाहिए। उनको कहा जाता है महावीर। शास्त्रों में तो स्थूल रूप में बातें ले गये हैं। यह तो ज्ञान की बातें हैं। तुम बच्चे जानते हो – निराकार शिवबाबा ने आत्मा की भी पूरी पहचान दी है कि तुम्हारी आत्मा में क्या-क्या पार्ट नूँधा हुआ है। बाप ही बैठ समझाते हैं – मनुष्य तो देही-अभिमानी हैं नहीं। देही के बाप को ही नहीं जानते, यथार्थ रीति से इसलिए इसको घोर अन्धियारा कहा जाता है। कलियुग को घोर अन्धियारा, सतयुग को घोर सोझरा कहा जाता है। आत्मायें सब काली हैं अर्थात् ब्लैक आउट है। सतयुग में देवी-देवता धर्म की आत्मायें रोशनी में थी। इस भारत में ही दीपमाला मनाई जाती है। तुम जानते हो यहाँ हमारी आत्मा घोर अन्धियारे में है। बाप घोर सोझरे में ले जाते हैं। आत्माओं को कुछ पता नहीं कि हम कितने जन्म और कैसे लेते हैं। अब तुम जान चुके हो – बाप द्वारा हमको सृष्टि के आदि मध्य अन्त का ज्ञान मिला है। दुनिया में कोई भी तुमको सृष्टि के आदि मध्य अन्त की नॉलेज नहीं बता सकेंगे। वह तो न आत्मा को, न परमात्मा को जानते हैं। भल कहते हैं कि मैं आत्मा हूँ, परन्तु मैं क्या हूँ, यह कुछ भी पता नहीं। भ्रकुटी के बीच सितारा चमकता है सो क्या! उनमें क्या पार्ट भरा हुआ है, कितने जन्म लेते हैं? यह ज्ञान कोई में भी नहीं है। बाप आकर समझाते हैं, सेल्फ रियलाइजेशन कराते हैं। कोई से पूछो कि आत्मा का बाप कौन है? कोई कहेंगे श्रीकृष्ण, कोई कहेंगे महावीर।

हम आत्मा हैं, हमारा बाप निराकार शिव है। एक भी ऐसे कह न सके। न तो रचयिता, न रचना के आदि-मध्य-अन्त को जानते हैं, इसलिए उनको नास्तिक कहा जाता है। बाप कहते हैं तुम नास्तिक शूद्र थे। अब ब्राह्मण आस्तिक बने हो। बाप परिचय देते हैं कि मैं क्या पार्ट बजाता हूँ। कोई भी बाप का परिचय दे न सके। बाप का पार्ट क्या है, समझा न सके। तुम भी नम्बरवार समझते हो। देही-अभिमानी होने कारण अवस्था अच्छी रहती है। देह-अभिमान में आकर फिर झरमुई-झगमुई करने लग पड़ते हैं, इसलिए ऊंच पद पा न सकें। न विकर्म विनाश होते हैं। बाप समझाते तो बहुत अच्छा हैं। जीते जी मरने का अर्थ कितना सहज है। तुम जीते जी मरे हुए हो। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करते हो। हमारी आत्मा में 84 जन्मों का पार्ट है, वह भी जानते हो, बाप को भी जानते हो कि वह कैसे ज्ञान का सागर, पतित-पावन है। भारत ही पावन श्रेष्ठ था, अभी तो पतित है। परन्तु पतित अपने को समझते थोड़ेही हैं। अभी तुम बच्चे जानते हो पहले तो कोई भी काम के नहीं थे। सब मरे पड़े थे, सब कब्रिस्तान बना हुआ है। अब फिर परिस्तान के मालिक बन रहे हैं। भारत परिस्तान था, अब कब्रिस्तान है। सब एक दो को दु:ख देते ही रहते हैं। बाप कहते हैं कि अभी तुम सबको बाप का परिचय दे सुखदाई बनाओ। देही-अभिमानी न होने कारण टाइम वेस्ट करते रहते हैं। घड़ी-घड़ी देह-अभिमान आ जाता है। तुम बच्चों को कब ह्रास (दु:ख) नहीं होना चाहिए। कोई-कोई तो ह्रास में आ जाते हैं। कोई समझते हैं बाबा रामराज्य की स्थापना कर रहे हैं, रावण राज्य का विनाश होना है, इसमें कोई डरने की बात नहीं है। हाँ, गवर्मेंट आदि मकान खाली कराती है तो करना पड़ता है। बाबा की याद में शरीर भी छूट जाए तो अच्छा है। सदैव तैयार रहना चाहिए।

माया का वार अच्छे-अच्छे बच्चों पर भी हो जाता है। कोई तो ऐसे मूर्ख बन जाते हैं, कहते हैं कि हमारा तो डायरेक्ट शिवबाबा से कनेक्शन है। परन्तु ब्रह्मा के आगे तो जरूर आना पड़ेगा ना। अच्छा घर में भी जाकर बैठ जाओ फिर मुरली कैसे सुनेंगे! क्या करेंगे? कहते यह ब्रह्मा भी पुरूषार्थी है, हम भी पुरूषार्थी हैं। पढ़ते तो सब शिवबाबा से हैं, परन्तु ब्रह्मा पास आयेंगे तब तो सुनेंगे ना। प्रेरणा से सुनकर दिखाओ तो मालूम पड़े। फिर कभी-कभी बाबा मुरली बंद भी कर देते हैं। ब्रह्मा से जन्म लिया और मर गया फिर खत्म। वर्सा कैसे पायेंगे। ऐसे भी मंद बुद्धि बहुत संगदोष में खराब हो जाते हैं। फिर बताओ उनकी क्या गति होगी? सतगुरू का निंदक बने तो ऊंच ठौर पा नहीं सकेंगे। गुरू ब्रह्मा कहते हैं ना। गुरू विष्णु, गुरू शंकर नहीं कहेंगे। गुरू सिर्फ ब्रह्मा ही है। तुम भी माता गुरू बनती हो। सतगुरू द्वारा बनी हो न कि कलियुगी गुरूओं द्वारा। तुम ब्राह्मण ब्राह्मणियां बनी हो। तुम्हारी है रूहानी यात्रा। मेहनत है, माया किसकी बुद्धि को ताला लगा देती है तो फिर उल्टा-सुल्टा बोलते रहते हैं। वेस्ट आफ टाइम करते हैं। अच्छा-

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

बापदादा के हस्त-लिखित पत्रों की कापी

ज्ञान के सागर पतित-पावन निराकार शिव भगवानुवाच, अपने रथ प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा सर्व ब्राह्मण कुल भूषण ब्रह्मा मुख वंशावली ब्रह्माकुमार कुमारियों प्रति-

हे बच्चों, तुमको समझाया गया है कि पतित-पावन को पतित दुनिया में आकर पतित शरीर में प्रवेश करना पड़ता है, वह पतित शरीर कौन सा है? जो पूरे 84 जन्मों का चक्र लगाकर अभी अन्तिम जन्म में है। पहला जन्म तो है पावन श्रीकृष्ण – श्रीराधे, स्वयंवर के बाद फिर श्री लक्ष्मी-नारायण बनते हैं। अभी वह देवताओं का धर्म है नहीं। अनेक अधर्म हैं। अब फिर से बाप आकर वही सतयुगी देवी-देवताओं का धर्म स्थापन करते हैं। प्रजापिता ब्रह्मा मुख वंशावली बच्चे जो ब्राह्मण ब्राह्मणी कहलाते हैं। आत्मा रूप में आपस में भाई-भाई हैं। फिर ब्रह्मा द्वारा एडाप्ट हो भाई बहिन बनते हैं। वर्सा पाना है ब्रह्माकुमार-कुमारियों को परमपिता परमात्मा से। शिवबाबा अपने बच्चों (आत्माओं) को कहते हैं, अब देही-अभिमानी वा आत्म-अभिमानी भव और मुझ अपने बेहद के बाप याद करो, जो इस योग अग्नि वा याद द्वारा सिर पर विकर्मों का बोझा है जन्म-जन्मान्तर का, सो भस्म हो जायेगा। देह का अभिमान छोड़ अपने को आत्मा निश्चय कर बेहद के बाप मुझ परमपिता को याद करो तो तुम फिर से पवित्र सतोप्रधान बन जायेंगे। द्वापर में जब से रावणराज्य की स्थापना होती है तब से आत्मा जो सच्चे सोने समान है, जिसको सतोप्रधान गोल्डन एज कहा जाता है, सो अन्त में आइरन एजड तमोप्रधान कही जाती है अर्थात् सतयुग में जो पावन थे सो पतित बन जाते हैं कलियुग में। अब फिर पावन बनने लिए खास भारतवासी पतित-पावन बाप को बहुत याद करते हैं क्योंकि मेरा अवतरण इस भाग्यशाली ब्रह्मा रथ में ही होता है। इस भाग्यशाली रथ का नाम तो और ही होता है, उनको अपना बनाता हूँ। इसमें प्रवेश कर प्रजापिता ब्रह्मा नाम रख देता हूँ। कल्प पहले ड्रामा अनुसार प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा ब्राह्मण रच उन ब्रह्माकुमार/कुमारियों द्वारा पतित भारत को पावन भारत बनाया था फिर भी जबकि कल्प की अन्त में पतित बन आत्मा 84 का चक्र पूरा करती है तो फिर वही पतित दुनिया को पावन करने आना पड़ता है। कल्प-कल्प अर्थात् हर 5 हजार वर्ष बाद मुझ सर्व के परमपिता परमात्मा को याद करते हैं, भक्ति मार्ग में। और अन्त में जब भक्ति मार्ग पूरा होता है तो आता हूँ। भक्ति मार्ग द्वापर से उतरता मार्ग है। रावण अर्थात् 5 विकारों के कारण सबकी उतरती कला होती है और मनुष्य मात्र पतित बन दुर्गति को पाते हैं। और मैं ब्राह्मण कुल भूषणों का बाप, टीचर, सतगुरू बनता हूँ। मेरा तो कोई बाप, टीचर, गुरू नहीं है। भारतवासी आसुरी सम्प्रदाय जो सतयुग में दैवी सम्प्रदाय थे उनका पिता तो हूँ परन्तु उनको फिर से सूर्यवंशी देवी-देवता बनाने, जो प्रजापिता ब्रह्माकुमार/ब्रह्माकुमारी बनते हैं, कल्प पहले मिसल उनका शिक्षक बनता हूँ। उनको सत्य ज्ञान देता हूँ। सृष्टि चक्र के आदि मध्य अन्त का ज्ञान देकर उन्हें त्रिकालदर्शी बना रहा हूँ। ताकि नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार कल्प पहले मिसल चक्रवर्ती सूर्यवंशी दैवी स्वराज्य फिर से स्थापन हो। बच्चों को सिद्ध कर बताया जा रहा है कि तुम इस समय सर्वोत्तम ब्रह्मा मुख वंशावली ब्राह्मण कुल भूषण हो। दैवी कुल से यह उत्तम कुल है क्योंकि तुम ईश्वरीय कुल में हो। भारत 5 हजार वर्ष पहले स्वर्ग श्रेष्ठाचारी वैकुण्ठ दैवी स्वराज्य था, तब तुम सूर्यवंशी देवी-देवता थे फिर क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र वंश में आये। अब प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा ब्राह्मण बने हो। इसे 84 जन्मों का चक्र कहा जाता है। सब तो 84 जन्म नहीं लेते हैं, पीछे-पीछे अनेक धर्म द्वापर से मठ पंथ स्थापन होते आये हैं और सृष्टि वृद्धि को पाती आई है। वास्तव में प्रजापिता ब्रह्मा मनुष्य सृष्टि झाड़ का फाउन्डेशन है, जिसको कल्प वृक्ष कहा जाता है। गोया शिवबाबा मनुष्य मात्र का बाबा, पिता है और ब्रह्मा गैन्ड फादर है। मनुष्य सृष्टि झाड़ वा जीनालाजिकल ट्री का पहला मनुष्य, आदम वा एडम वा प्रजापिता ब्रह्मा है। प्रजापिता ब्रह्मा और मुख वंशावली, परमपिता मुझ परमात्मा शिव से सहज राजयोग और ज्ञान सीख सुख घनेरे सोझरे में जाते हो। गाया भी जाता है ज्ञान सूर्य प्रगटा… ज्ञान सूर्य भी पतित-पावन परमपिता परमात्मा को ही कहा जाता है। तुम ज्ञान सोझरे में हो बाकी सब अज्ञान अन्धियारे में हैं।

2- बच्चों ने ज्ञान सुना और बाबा कहा तो वर्सा मिलना ही है। एक तो बाप को दूसरा सृष्टि चक्र को याद करना है और तो कोई तकलीफ नहीं। बाप जानते हैं कि बच्चों ने भक्ति मार्ग में बहुत तकलीफ देखी है, अभी और क्या तकलीफ बच्चों को देवें। जितना भक्ति में मेहनत उतना यहाँ चुप रहना है। जितना योग में रहेंगे उतना विकर्म विनाश होंगे। कहते हैं ना – त्वमेव माताश्च पिता…दूसरे लौकिक माँ बाप, भाई, बन्धु इस समय सब दु:ख देते हैं। यह फिर सबको सुख देते हैं, सदा सुखी बनाते हैं। अच्छा।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) हम ऊंचे ते ऊंच सर्वोत्तम ब्राह्मण कुल भूषण हैं – इस खुशी में रहना है। स्वयं भगवान बाप, टीचर, गुरू के रूप में हमें मिला है इस स्मृति में सदा हर्षित रहना है।

2) किसी भी बात के दु:ख (ह्रास) में नहीं आना है। झरमुई झगमुई में समय बरबाद नहीं करना है।

वरदान:- विपरीत भावनाओं को समाप्त कर अव्यक्त स्थिति का अनुभव करने वाले सद्भावना सम्पन्न भव
जीवन में उड़ती कला वा गिरती कला का आधार दो बातें हैं – भावना और भाव। सर्व के प्रति कल्याण की भावना, स्नेह-सहयोग देने की भावना, हिम्मत-उल्लास बढ़ाने की भावना, आत्मिक स्वरूप की भावना वा अपने पन की भावना ही सद्भावना है, ऐसी भावना वाले ही अव्यक्त स्थिति में स्थित हो सकते हैं। अगर इनके विपरीत भावना है तो व्यक्त भाव अपनी तरफ आकर्षित करता है। किसी भी विघ्न का मूल कारण यह विपरीत भावनायें हैं।
स्लोगन:- सर्वशक्तिमान् बाप जिसके साथ है, माया उसके सामने पेपर टाइगर है।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 16 September 2017 :- Click Here

Font Resize