18 may ki murli

TODAY MURLI 18 MAY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 18 May 2020

18/05/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have once again reached your destination. You have now come to know the Creator and creation from the Father. You should therefore have goose pimples of happiness.
Question: Why does the Father adorn you children at this time?
Answer: Because, you now have to become fully adorned and go to the land of Vishnu (your in-laws’ home). After being decorated with this knowledge, you become the emperors and empresses of the world. You are now at the confluence age. Baba, as the Teacher, is teaching you in order to send you from your Parent’s home to your in-laws’ home.
Song: At last the day for which we had been waiting has come!

Om shanti. You sweetest, long-lost and now-found children heard the song. You children know that you have finally found the Beloved whom you have been remembering for half the cycle. No one in the world knows that you do devotion for half the cycle. They call out to the Father, the Beloved. We are His lovers and He is our Beloved. No one knows this either. The Father says: Ravan has completely degraded everyone’s intellect. This applies to the people of Bharat especially. You have forgotten that you were deities. Therefore, your intellects are degraded. To forget one’s own religion is a sign of a degraded intellect. Only you now know that we people of Bharat were the residents of heaven. This Bharat was heaven only a short while ago. For 1250 years it was the golden age and then, for the next 1250 years, it was the kingdom of Rama. At that time there was limitless happiness. On remembering this happiness, you should have goose pimples. The golden and silver ages have passed. What is the duration of the golden age? No one knows this. How could it possibly be hundreds of thousands of years? The Father now comes and explains that Maya has made your intellects so degraded! No one in the world considers himself to have a degraded intellect. You know that, yesterday, you had degraded intellects. Baba has now given you enough wisdom to recognise the Creator and to understand the beginning, the middle and the end of creation. Yesterday, we did not know this. Today, we do know it. The more you know, the more goose pimples of happiness you will have. We have now, once again, reached our destination. The Father really did give us the kingdom of heaven and then we lost it. We have now become impure. The golden age is not considered to be impure. That is the pure world. People say: O Purifier, come! There can’t be anyone pure or elevated in Ravan’s kingdom. You have now become the children of the highest-on-high Father. Therefore, you too have become elevated. You children now know the Father but that too is numberwise according to the effort you make. Wake up early in the morning and ask your heart this. The morning time of nectar is a very good time to sit and churn these things. Baba is our Father and our Teacher. People say: O God the Father! O Supreme Father, Supreme Soul! You children now know that you have found the One whom they remember and to whom they call out: O God! We are once again claiming our unlimited inheritance. Those are your physical fathers. This One is the unlimited Father. Even your physical fathers remember that unlimited Father. Therefore, He is the Father of all fathers, the Husband of all husbands. The people of Bharat say this, because I now become the Father of all fathers and the Husband of all husbands. I am now your Father and you have become My children. You continue to say: Baba! Baba! I have now come once again to take you to the land of Vishnu, your in-laws’ home. This is your Father’s home and you will then go to your in-laws’ home. You children know that you are being adorned very beautifully. You are now at home with your Father. You are also being educated. Having been adorned with this knowledge, you then become the emperors and empresses of the world. You have come here in order to become the masters of the world. When it was the golden age, you people of Bharat were the masters of the world. You wouldn’t say that you are the masters of the world now. You know that, at present, the masters of Bharat belong to the iron age, whereas you belong to the confluence age. Then, in the golden age, you will be the masters of the whole world. These things should enter the intellects of you children. You know that the One who gives you the kingdom of the world has now come. He has now come at this confluence age. Only the Father, no human being, can be called the Bestower of Knowledge because the Father has the knowledge with which He bestows salvation to the whole world. Everything, including nature is given salvation. Human beings have no knowledge of salvation. The whole world, including nature, is now tamopradhan. Everyone who resides here is also tamopradhan. The new world is called the golden age. Deities used to live there. Then Ravan defeated them. The Father has now come once again. You children say that you are going to BapDada. The Father gives you your inheritance of the kingdom of heaven through this Dada. The Father will give you the kingdom of heaven; what else would He give? At least, this should enter the intellects of you children. However, Maya makes you forget this. She doesn’t allow you to have constant happiness. Those who study well and also teach well will claim a high status. “Liberation-in-life in a second“, has been remembered. You just have to recognise Him once. There is the one Father of all souls and that Father of all souls has now come. However, not everyone will be able to meet Him; that would be impossible. The Father comes to teach you. All of you are teachers. This is called the Gita Pathshala (study place). These words are common. They say that Krishna spoke the Gita. However, this is not Krishna’s pathshala. The Krishna soul is studying here. Does anyone study or teach in a Gita pathshala in the golden age? Krishna exists in the golden age and he takes 84 births. No one’s body can be identical to another’s. According to the dramaplan, each soul has a part of 84 births recorded in him. One second cannot be identical to the next. You play your parts for 5000 years. The part you perform one second cannot be identical to your part in the next second. This is a matter of great understanding. This is the drama. Your parts continue to repeat. All the scriptures belong to the path of devotion. Devotion lasts for half a cycle. Then I come and grant everyone salvation. You know that you were given salvation 5000 years ago and that you used to rule there. There was no mention of sorrow. Now, there is nothing but sorrow; it is called the land of sorrow. There are the lands of peace, happiness and sorrow. I come and show you people of Bharat the path to the land of happiness. I have to come every cycle. I have come many times before and I will continue to come. There can be no end to this. Whilst going around the whole cycle, you enter the land of sorrow and I then have to come. You now remember the cycle of your 84 births. The Father is called the Creator. This doesn’t mean that He creates the drama. To be the Creator means that He comes at this time and creates the golden age. I come and teach those who had the kingdom in the golden age and then lost it. I adopt you children. You are My children, are you not? It isn’t a sage or a holy man teaching you. Only the one Father whom everyone remembers is teaching you. The One whom they remember would definitely come here at some point. No one understands why they remember Him. So, the Purifier Father definitely comes. They wouldn’t say to Christ: Come again! People think that that soul has become merged and so there is no question of him coming back. Nevertheless, it is still the Purifier whom they remember: Give us souls the inheritance once again. You children are now aware that Baba has come. He comes to establish the new world. Other founders of religions will come at their own time; at the time of rajo and tamo. You children know that you are now becoming master knowledgefull. Only the one Father teaches you and makes you into the masters of the world. He, Himself, does not become that; this is why He is called the altruistic Server. People say that they don’t want any reward for what they do, that they are serving altruistically. However, that is not so. They take their next birth according to the sanskars they have taken with them. They definitely do receive the fruit of their karma. Sannyasis also take rebirth to householders and then, according to their sanskars, they go into the religion of renunciation. In the same way, Baba gives the example of soldiers. They quote the Gita where it says: If you die on the battlefield you go to heaven. However, there has to be a time for heaven. They say that the duration of heaven is hundreds of thousands of years. You children now understand what the Father tells you and what is written in the Gita. They say that the versions of God say: I am omnipresent. The Father says: How could I insult Myself by saying I am omnipresent? How could I be in the cats and dogs? You call Me the Ocean of Knowledge. Therefore, how could I call Myself those things? It is such a lie! No one has any knowledge. Because sannyasis are pure, people have so much regard for them. There are no gurus in the golden age. Here, a bride is told that her bridegroom is her guru and her god and that she must not adopt any other guru. That explanation was for when devotion was first satopradhan. There are no gurus in the golden age. Even at the beginning of devotion, there are no gurus. The husband is considered to be everything, so they don’t take a guru. You now understand these things. Some people become afraid just on hearing the name, Brahma Kumars and Kumaris, because they think that we make everyone into brothers and sisters. Oh! But it is good to become a child of Prajapita Brahma. Only BKs claim the inheritance of heaven. You are now claiming that. You have now become Brahma Kumars and Kumaris. Husband and wife both say that they are brother and sister, and this is how the consciousness of bodies and the odour of vice are removed. How could we brothers and sisters, children of the one Father, indulge in vice? That would be a very big sin. This is a tactic in the drama to enable you to remain pure. Sannyasis belong to the path of isolation, whereas you belong to the family path. You now have to stop following the customs and systems of this dirty world and forget this world. You used to be the masters of heaven. Then Ravan made you so dirty. Baba has also told you what to say when people ask how they can accept that they have taken 84 births. It is something good that we are telling you, that you have taken 84 births. If they haven’t taken 84 births, they will not remain here. You can then understand that they don’t belong to the deity religion and that they cannot come to heaven. They would attain a low status amongst the subjects. Among the subjects too, there is a high status and a low status. These things are not mentioned in the scriptures. God comes and establishes the kingdom. Shri Krishna was the master of Vaikunth, Paradise. It is the Father who establishes that Paradise. The Father speaks the Gita through which we attain a status. At that time there is no need to study or teach others. You study this knowledge now and claim a status. Then you will not study this knowledge of the Gita there because you will have received salvation. The more effort you make now, the higher the status you will claim there. You will continue to make exactly the same effort as you did in the previous cycle. You have to observe everything in a detached way. You have to observe the teacher who taught you and you have to become cleverer than him or her. There is a big margin. You have to make effort to become the highest-on-high. The main thing is to become satopradhan from tamopradhan. These matters have to be understood. Stay at home with your families and remember the Father. You will then become pure. Here, everyone is impure and there is nothing but sorrow. No one knows when it was the kingdom of happiness. At the time of sorrow, they call out: O God, O Rama, why did You cause us this sorrow? However, God does not cause sorrow for anyone. It is Ravan that causes sorrow. You now know that there will not be any other religion in your kingdom. All other religions come later. Wherever you go, you take this study with you. You have received the aim of “Manmanabhav”; remember the Father. We are claiming the inheritance of heaven from the Father. Are you not able to remember even this much? This remembrance must remain firm, because your final thoughts lead you to your destination. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Wake up in the early hours of nectar and think about how Baba is our Father and also our Teacher. Baba has now come to adorn us with jewels of knowledge. He is the Father of all fathers and the Husband of all husbands. Have such thoughts and experience unlimited happiness.
  2. Observe each one’s efforts as a detached observer. There is still a margin for making effort to claim a high status. Therefore, change from tamopradhan to satopradhan.
Blessing: May you become a constantly powerful soul who becomes powerful by eating the practical and instant fruit of the confluence age.
The souls who become instruments for unlimited service at the confluence age receive power as the instant fruit of their becoming instruments. This practical and instant fruit is the fruit of this elevated age. Powerful souls who eat such fruit easily gain victory over any adverse situation that comes to them. Because of being with the Almighty Father, they are easily liberated from all waste. They even gain victory over a situation as poisonous as a snake. This is why, as a memorial, Shri Krishna has been shown dancing on a snake.
Slogan: Let the past be the past by passing with honours and always stay close to the Father. (paas in Hindi is to be close).

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 18 MAY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 18 May 2020

Murli Pdf for Print : – 

18-05-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम फिर से अपने ठिकाने पर पहुँच गये हो, तुमने बाप द्वारा रचता और रचना को जान लिया है तो खुशी में रोमांच खड़े हो जाने चाहिए”
प्रश्नः- इस समय बाप तुम बच्चों का श्रृंगार क्यों कर रहे हैं?
उत्तर:- क्योंकि अभी हमें सज-धज कर विष्णुपुरी (ससुर-घर) में जाना है। हम इस ज्ञान से सजकर विश्व के महाराजा-महारानी बनते हैं। अभी संगमयुग पर हैं, बाबा टीचर बनकर पढ़ा रहे हैं – पियरघर से ससुरघर ले जाने के लिए।
गीत:- आखिर वह दिन आया आज ……….

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे स्वीट चिल्ड्रेन, मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों ने गीत सुना। तुम बच्चे ही जानते हो कि आधाकल्प जिस माशुक को याद किया है, आखरीन वह मिले हैं। दुनिया यह नहीं जानती कि हम कोई आधाकल्प भक्ति करते हैं, माशूक बाप को पुकारते हैं। हम आशिक हैं, वह माशूक है – यह भी कोई नहीं जानते। बाप कहते हैं रावण ने तुमको बिल्कुल ही तुच्छ बुद्धि बना दिया है। खास भारतवासियों को। तुम देवी-देवता थे यह भी भूल गये हो, तो तुच्छ बुद्धि हुए। अपने धर्म को भूल जाना, यह है तुच्छ बुद्धि का काम। अभी यह सिर्फ तुम ही जानते हो। हम भारतवासी स्वर्गवासी थे। यह भारत स्वर्ग था। थोड़ा ही समय हुआ है। 1250 वर्ष तो सतयुग था और 1250 वर्ष रामराज्य चला। उस समय अथाह सुख था। सुख को याद कर रोमांच खड़े हो जाने चाहिए। सतयुग, त्रेता…… यह पास हो गये। सतयुग की आयु कितनी थी, यह भी कोई नहीं जानते। लाखों वर्ष कैसे हो सकती है। अभी बाप आकर समझाते हैं – तुमको माया ने कितना तुच्छ बुद्धि बना दिया है। दुनिया में कोई अपने को तुच्छ बुद्धि समझते नहीं हैं। तुम जानते हो हम कल तुच्छ बुद्धि थे। अभी बाबा ने इतनी बुद्धि दी है जो रचता और रचना के आदि-मध्य-अन्त को हम जान गये हैं। कल नहीं जानते थे, आज जाना है। जितना-जितना जानते जाते हैं, उतना खुशी में रोमांच खड़े होते जायेंगे। हम फिर से अपने ठिकाने पर पहुँचते हैं। बरोबर बाप ने हमको स्वर्ग की राजाई दी थी फिर हमने गँवा दी। अभी पतित बन पड़े हैं। सतयुग को पतित नहीं कहेंगे। वह है ही पावन दुनिया। मनुष्य कहते हैं हे पतित-पावन आओ। रावण राज्य में पावन ऊंच कोई हो ही नहीं सकता। ऊंच ते ऊंच बाप के बच्चे बने तो ऊंच भी बनें। तुम बच्चों ने बाप को जाना है, सो भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार। अपनी दिल से सवेरे उठकर पूछो, अमृतवेले का समय अच्छा है। सवेरे अमृतवेले बैठकर यह ख्याल करो। बाबा हमारा बाप भी है, टीचर भी है। ओ गॉडफादर, हे परमपिता परमात्मा तो कहते ही हैं। अभी तुम बच्चे जानते हो जिसको याद करते हैं – हे भगवान, अभी वह हमको मिला है। हम फिर से बेहद का वर्सा ले रहे हैं। वह है लौकिक बाप, यह है बेहद का बाप। तुम्हारा लौकिक बाप भी उस बेहद के बाप को याद करते हैं। तो बापों का बाप, पतियों का पति, वह हो गया। यह भी भारतवासी ही कहते हैं क्योंकि अभी मैं बापों का बाप, पतियों का पति बनता हूँ। अभी मैं तुम्हारा बाप भी हूँ। तुम बच्चे बने हो। बाबा-बाबा कहते रहते हो। अभी फिर तुमको विष्णुपुरी ससुरघर ले जाता हूँ। यह है तुम्हारे बाप का घर, फिर ससुरघर जायेंगे। बच्चे जानते हैं हमको बहुत अच्छा श्रृंगारा जाता है। अभी तुम पियरघर में हो ना। तुमको पढ़ाया भी जाता है। तुम इस ज्ञान से सजकर विश्व के महाराजा-महारानी बनते हो। तुम यहाँ आये ही हो विश्व का मालिक बनने। तुम भारतवासी ही विश्व के मालिक थे जबकि सतयुग था। अभी तुम ऐसे नहीं कहेंगे कि हम विश्व के मालिक हैं। अभी तुम जानते हो भारत के मालिक कलियुगी हैं, हम तो संगमयुगी हैं। फिर हम सतयुग में सारे विश्व के मालिक बनेंगे। यह बातें तुम बच्चों की बुद्धि में आनी चाहिए। जानते हो विश्व की बादशाही देने वाला आया है। अभी संगमयुग पर वह आये हैं। ज्ञान दाता एक ही बाप है। बाप के सिवाए किसी भी मनुष्य को ज्ञान दाता नहीं कहेंगे क्योंकि बाप के पास ऐसा ज्ञान है जिससे सारे विश्व की सद्गति होती है। तत्वों सहित सबकी सद्गति हो जाती है। मनुष्यों के पास सद्गति का ज्ञान है नहीं।

इस समय सारी दुनिया तत्वों सहित तमोप्रधान है। इसमें रहने वाले भी तमोप्रधान हैं। नई दुनिया है ही सतयुग। उसमें रहने वाले भी देवता थे फिर रावण ने जीत लिया। अब फिर बाप आया हुआ है। तुम बच्चे कहते हो हम जाते हैं बापदादा के पास। बाप हमको दादा द्वारा स्वर्ग की बादशाही का वर्सा देते हैं। बाप तो स्वर्ग की बादशाही देंगे और क्या देंगे। तुम बच्चों की बुद्धि में यह तो आना चाहिए ना। परन्तु माया भुला देती है। स्थाई खुशी रहने नहीं देती है। जो अच्छी रीति पढ़ेंगे-पढ़ायेंगे वही ऊंच पद पायेंगे। गाया भी जाता है सेकण्ड में जीवन-मुक्ति। पहचानना एक ही बार चाहिए ना। सभी आत्माओं का बाप एक है, वह सभी आत्माओं का बाप आया हुआ है। परन्तु सब तो मिल भी नहीं सकेंगे। इम्पासिबुल है। बाप तो पढ़ाने आते हैं। तुम भी सब टीचर्स हो। कहा जाता है ना गीता पाठशाला। यह अक्षर भी कॉमन है। कहते हैं कृष्ण ने गीता सुनाई। अब यह कृष्ण की तो पाठशाला है नहीं। कृष्ण की आत्मा पढ़ रही है। सतयुग में कोई गीता पाठशाला में पढ़ते पढ़ाते हैं क्या? कृष्ण तो हुआ ही है सतयुग में फिर 84 जन्म लेते हैं। एक भी शरीर दूसरे से मिल न सके। ड्रामा प्लैन अनुसार हर एक आत्मा में अपना पार्ट 84 जन्मों का भरा हुआ है। एक सेकण्ड न मिले दूसरे से। 5 हज़ार वर्ष तुम पार्ट बजाते हो। एक सेकण्ड का पार्ट दूसरे सेकण्ड से मिल न सके। कितनी समझ की बात है। ड्रामा है ना। पार्ट रिपीट होता जाता है। बाकी वह शास्त्र सभी हैं भक्ति मार्ग के। आधाकल्प भक्ति चलती है फिर सर्व को सद्गति मैं ही आकर देता हूँ। तुम जानते हो 5 हज़ार वर्ष पहले राज्य करते थे। सद्गति में थे। दु:ख का नाम नहीं था। अभी तो दु:ख ही दु:ख है। इसको दु:खधाम कहा जाता है। शान्तिधाम, सुखधाम और दु:खधाम। भारतवासियों को ही आकर सुखधाम का रास्ता बताता हूँ। कल्प-कल्प फिर हमको आना पड़ता है। अनेक बार आया हूँ, आता रहूँगा। इसकी इन्ड नहीं हो सकती। तुम चक्र लगाकर दु:खधाम में आते हो फिर मुझे आना पड़ता है। अभी तुमको स्मृति आई है 84 जन्मों के चक्र की। अब बाप को रचता कहा जाता है। ऐसे नहीं कि ड्रामा का कोई रचता है। रचता अर्थात् इस समय सतयुग को आकर रचते हैं। सतयुग में जिन्हों का राज्य था फिर गँवाया, उन्हों को ही बैठ पढ़ाता हूँ। बच्चों को एडाप्ट करते हैं। तुम मेरे बच्चे हो ना। तुमको कोई साधू-सन्त आदि नहीं पढ़ाते हैं। पढ़ाने वाला एक बाप है, जिसको सब याद करते हैं। याद जिसको करते हैं जरूर कभी आयेंगे भी ना। यह भी किसको समझ नहीं है कि याद क्यों करते हैं! तो जरूर पतित-पावन बाप आते हैं। क्राइस्ट को ऐसे नहीं कहेंगे कि फिर से आओ। वह तो समझते हैं, लीन हो गया। फिर आने की बात ही नहीं। याद फिर भी पतित-पावन को करते हैं। हम आत्माओं को फिर से वर्सा दो। अभी तुम बच्चों को स्मृति आई – बाबा आया हुआ है। नई दुनिया की स्थापना करेंगे। वह फिर भी अपने समय पर रजो, तमो में ही आयेंगे। अभी तुम बच्चे समझते हो हम मास्टर नॉलेजफुल बनते हैं।

एक बाप ही है जो तुम बच्चों को पढ़ाकर विश्व का मालिक बना देते हैं। खुद नहीं बनते हैं इसलिए उनको कहा जाता है निष्काम सेवाधारी। मनुष्य कहते हैं हम फल की आश नहीं रखते हैं, निष्काम सेवा करते हैं। परन्तु ऐसे होता नहीं है। जैसे संस्कार ले जाते हैं, उस अनुसार जन्म मिलता है। कर्म का फल अवश्य मिलता है। सन्यासी भी पुनर्जन्म गृहस्थियों के पास लेकर फिर संस्कार अनुसार सन्यास धर्म में चले जाते हैं। जैसे बाबा लड़ाई वालों का भी मिसाल देते हैं। कहते हैं गीता में लिखा हुआ है जो युद्ध के मैदान में मरेगा वह स्वर्ग में जायेगा, परन्तु स्वर्ग का भी समय चाहिए ना। स्वर्ग तो लाखों वर्ष कह देते हैं। अब तुम जानते हो बाप क्या समझाते हैं, गीता में क्या लिख दिया है। कहते, भगवानुवाच मैं सर्वव्यापी हूँ। बाप कहते हैं मैं अपने को ऐसी गाली कैसे दूँगा कि मैं सर्वव्यापी हूँ, कुत्ते-बिल्ली सबमें हूँ। मुझे तो ज्ञान सागर कहते हो। मैं अपने को फिर यह कैसे कहूँगा? कितना झूठ है। ज्ञान तो कोई में है नहीं। सन्यासियों आदि का मान कितना है, क्योंकि पवित्र हैं। सतयुग में गुरू तो कोई होता नहीं। यहाँ तो स्त्री को कहते तुम्हारा पति गुरू ईश्वर है, दूसरा कोई गुरू नहीं करना। वह तो तब समझाया जाता था जब भक्ति भी सतोप्रधान थी। सतयुग में तो गुरू था नहीं। भक्ति की शुरूआत में भी गुरू होते नहीं। पति ही सब कुछ है। गुरू नहीं करते। इन सब बातों को अब तुम समझते हो।

कई मनुष्य तो ब्रह्माकुमार-कुमारियों का नाम सुनकर ही डर जाते हैं क्योंकि समझते हैं यह भाई-बहन बनाते हैं। अरे, प्रजापिता ब्रह्मा का बच्चा बनना तो अच्छा है ना। बी.के. ही स्वर्ग का वर्सा लेते हैं। अभी तुम ले रहे हो। तुम बी.के. बने हो। दोनों कहते हैं हम भाई-बहन हैं। शरीर का भान, विकार की बांस निकल जाती है। हम एक बाप के बच्चे भाई-बहन विकार में कैसे जा सकते हैं। यह तो महान पाप है। यह पवित्र रहने की युक्ति ड्रामा में है। सन्यासियों का है निवृत्ति मार्ग। तुम हो प्रवृत्ति मार्ग वाले। अब तुम्हें इस छी-छी दुनिया की रस्म-रिवाज को छोड़कर इस दुनिया को ही भूल जाना है। तुम स्वर्ग के मालिक थे फिर रावण ने कितना छी-छी बनाया है। यह भी बाबा ने समझाया है, कोई कहे हम कैसे मानें कि हमने 84 जन्म लिये हैं। 84 जन्म लिये हैं, यह तो हम अच्छा कहते हैं ना। 84 जन्म नहीं लिया तो ठहरेगा ही नहीं। समझा जाता है यह देवी-देवता धर्म का नहीं है, स्वर्ग में आ नहीं सकेगा। प्रजा में भी कम पद लेंगे। प्रजा में भी अच्छा पद, कम पद है ना। यह बातें कोई शास्त्रों में नहीं हैं। भगवान आकर किंगडम स्थापन करते हैं। श्रीकृष्ण तो बैकुण्ठ का मालिक था। स्थापना बाप करते हैं। बाप ने गीता सुनाई जिससे यह पद पाया फिर तो पढ़ने-पढ़ाने की दरकार ही नहीं। तुम पढ़कर पद पा लेते हो। फिर थोड़ेही गीता का ज्ञान पढ़ेंगे। ज्ञान से सद्गति मिल गई, जितना पुरूषार्थ उतना ऊंच पद पायेंगे। जितना पुरुषार्थ कल्प पहले किया था वह करते रहते हैं। साक्षी हो देखना है। टीचर को भी देखना है, इसने हमको पढ़ाया है, हमको इनसे भी होशियार होना है। मार्जिन बहुत है। कोशिश करनी है ऊंच ते ऊंच बनने की। मूल बात है तमोप्रधान से सतोप्रधान बनना है। यह समझने की बात है ना। गृहस्थ व्यवहार में भी रहना है, बाप को याद करना है तो पावन बन जायेंगे। यहाँ सब पतित हैं इसमें दु:ख ही दु:ख है। सुख का राज्य कब था, यह किसको पता नहीं है। दु:ख में कहते हैं हे भगवान, हे राम, यह दु:ख क्यों दिया? अब भगवान तो किसको दु:ख देते नहीं। रावण दु:ख देते हैं। अभी तुम जानते हो हमारे राज्य में और कोई धर्म नहीं होगा। फिर बाद में और धर्म आयेंगे। तुम भल कहाँ भी जाओ। पढ़ाई साथ है, मनमनाभव का लक्ष्य तो मिला है, बाप को याद करो। बाप से हम स्वर्ग का वर्सा ले रहे हैं। यह भी याद नहीं कर सकते। यह याद पक्की चाहिए। तो फिर अन्त मती सो गति हो जायेगी। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सवेरे-सवेरे अमृतवेले उठ ख्याल करना है – बाबा हमारा बाप भी है, टीचर भी है, अभी बाबा आया है हमारा ज्ञान रत्नों से श्रृंगार करने। वह बापों का बाप, पतियों का पति है, ऐसे ख्याल करते अपार खुशी का अनुभव करना है।

2) हर एक के पुरूषार्थ को साक्षी होकर देखना है, ऊंच पद की मार्जिन है इसलिए तमोप्रधान से सतोप्र-धान बनना है।

वरदान:- संगमयुग पर प्रत्यक्षफल द्वारा शक्तिशाली बनने वाली सदा समर्थ आत्मा भव
संगमयुग पर जो आत्मायें बेहद सेवा के निमित्त बनती हैं उन्हें निमित्त बनने का प्रत्यक्ष फल शक्ति की प्राप्ति होती है। यह प्रत्यक्षफल ही श्रेष्ठ युग का फल है। ऐसा फल खाने वाली शक्तिशाली आत्मा किसी भी परिस्थिति के ऊपर सहज ही विजय पा लेती है। वह समर्थ बाप के साथ होने के कारण व्यर्थ से सहज मुक्त हो जाती है। जहरीले सांप समान परिस्थिति पर भी उनकी विजय हो जाती है इसलिए यादगार में दिखाते हैं कि श्रीकृष्ण ने सर्प के सिर पर डांस किया।
स्लोगन:- पास विद आनर बनकर पास्ट को पास करो और बाप के सदा पास रहो।

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 18 MAY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 18 May 2019

To Read Murli 17 May 2019 :- Click Here
18-05-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाप है सर्व सम्बन्धों के प्यार की पीन, एक मीठे माशुक को याद करो तो बुद्धि सब तरफ से हट जायेगी”
प्रश्नः- कर्मातीत बनने का सहज पुरूषार्थ वा युक्ति कौन-सी है?
उत्तर:- भाई-भाई की दृष्टि को पक्का करने का पुरुषार्थ करो। बुद्धि से एक बाप के सिवाए और सब कुछ भूल जाये। कोई भी देहधारी सम्बन्ध याद न आये तब कर्मातीत बनेंगे। अपने को आत्मा भाई-भाई समझना – यही पुरुषार्थ की मंज़िल है। भाई-भाई समझने से देह की दृष्टि, विकारी ख्यालात ख़त्म हो जायेंगे।

ओम् शान्ति। डबल ओम् शान्ति। डबल कैसे है, यह तो तुम बच्चों की ही बुद्धि में है। बाप भी बच्चों को ही बैठ समझाते हैं। पहले तो बाप का निश्चय होना चाहिए क्योंकि यह बाप भी है, टीचर भी है, गुरू भी है। यूँ तो लौकिक रीति से अलग-अलग होते हैं। टीचर जवानी में किया जाता है। गुरू 60 वर्ष की आयु के बाद करते हैं। यह तो जब आते हैं, तीनों ही इकट्ठी सर्विस करते हैं। कहते हैं छोटे-बड़े सब पढ़ सकते हैं। बच्चों की ब्रेन अच्छी फ्रेश होती है। यह तो बच्चे समझ गये, छोटे-बड़े सब जीव की आत्मा जरूर हैं। आत्मा जीव में प्रवेश करती है। आत्मा और जीव में फ़र्क तो है ना। यहाँ तुम बच्चों को आत्मा और परमात्मा का ज्ञान दिया जाता है। आत्मा तो अविनाशी है, बाकी शरीर यहाँ भ्रष्टाचार से पैदा होता है। वहाँ तो भ्रष्टाचार का नाम ही नहीं होता। गाया जाता है सम्पूर्ण निर्विकारी दुनिया। श्रेष्ठाचारी और भ्रष्टाचारी अक्षर है ना। यह सब बातें बाप ही समझाते हैं। बच्चों को सिर्फ यह पक्का निश्चय हो जाए कि हम आत्माओं का बाप हमको पढ़ाते हैं। बाप आते ही हैं पुरुषोत्तम संगमयुग पर। तो इससे सिद्ध होता है कनिष्ट से पुरुषोत्तम बनाते हैं। यह दुनिया ही कनिष्ट तमोप्रधान है, इसको रौरव नर्क कहा जाता है। अब हमको वापिस जाना है, इसलिए अपने को आत्मा समझो। बाप आये हैं लेने लिए। हम भाई-भाई हैं – यह पक्का निश्चय कर लो। यह देह तो रहेगी नहीं। फिर विकार की दृष्टि ख़लास हो जायेगी। यह है बड़ी मंज़िल। इस मंज़िल पर बहुत थोड़े पहुँच सकते हैं, मेहनत है। पिछाड़ी में कोई भी चीज़ याद न आये, इसको कहा जाता है कर्मातीत अवस्था। यह देह भी विनाशी है, इससे भी ममत्व निकल जाए। पुराने सम्बन्ध में ममत्व नहीं रखना है। अब तो नये सम्बन्ध में जाना है। पुराना आसुरी सम्बन्ध स्त्री-पुरुष का कितना छी-छी है। बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझो। अब वापिस जाना है। आत्मा-आत्मा समझते रहेंगे तो फिर शरीर का भान नहीं रहेगा। स्त्री-पुरुष की कशिश निकल जायेगी। लिखा हुआ भी है अन्तकाल जो स्त्री सिमरे, ऐसे चिंतन में जो मरे….. इसलिए कहते हैं अन्तकाल गंगा जल मुख में हो, कृष्ण की याद हो। भक्ति मार्ग में तो कृष्ण की याद रहती है। कृष्ण भगवानुवाच कह देते हैं। यहाँ तो बाप कहते हैं देह को भी याद नहीं करना है। अपने को आत्मा समझो और सब तरफ से दिल हटाते जाओ। सभी सम्बन्धों का प्यार एक में जैसे पीन हो जाता है। सबका मीठा और फिर सबका माशुक भी है। माशुक एक ही है। परन्तु भक्ति मार्ग में नाम कितने रख दिये हैं। भक्ति का विस्तार बहुत है। यज्ञ, तप, दान, तीर्थ, व्रत करना, शास्त्र पढ़ना यह सब भक्ति की सामग्री है। ज्ञान की सामग्री तो कुछ भी है नहीं। यह भी तुम नोट करते हो समझाने के लिए। बाकी तुम्हारे काग़ज़ आदि कुछ भी रहेंगे नहीं। बाप समझाते हैं – बच्चे, तुम शान्तिधाम से आये थे, शान्त ही थे। शान्ति के सागर से तुम शान्ति का, पवित्रता का वर्सा लेते हो। अभी तुम वर्सा ले रहे हो ना। ज्ञान भी ले रहे हो। स्टेटस सामने खड़ा है। यह ज्ञान सिवाए बाप के और कोई दे न सके। यह है रूहानी ज्ञान। रूहानी बाप एक ही बार आते हैं, रूहानी ज्ञान देने लिए। उनको कहते भी हैं पतित-पावन।

सुबह को बच्चों को बैठ ड्रिल कराते हैं। वास्तव में इसको ड्रिल भी नहीं कहा जाए। बाप सिर्फ कहते हैं – बच्चे, अपने को आत्मा समझ मुझे याद करो। कितना सहज है। तुम आत्मा हो ना। कहाँ से आये हो? परमधाम से। ऐसे और कोई भी पूछेंगे नहीं। पारलौकिक बाप ही बच्चों से पूछते हैं – बच्चों, परमधाम से आये हो ना, इस शरीर में पार्ट बजाने। पार्ट बजाते-बजाते अब नाटक पूरा हुआ। आत्मा पतित बनी तो शरीर भी पतित बना है। सोने में ही अलाए पड़ती है फिर उनको गलाया जाता है। वह सन्यासी लोग ऐसे अर्थ कभी नहीं समझायेंगे। वो तो ईश्वर को जानते ही नहीं। बाप से योग रखो, यह मानते ही नहीं। बाप जो सिखलाते हैं वह और कोई सिखला न सके। इसमें तो प्रैक्टिकल में मेहनत करनी होती है। बाप तो कितना सहज करके समझाते हैं। गाते भी हैं पतित-पावन है, सर्वशक्तिमान् है, उसे ही श्री-श्री कहा जाता है। और श्री कहा जाता है देवताओं को। उनको शोभता है। उन्हों की आत्मा और शरीर दोनों पवित्र हैं। आत्मा को तो कोई निर्लेप कह न सके। आत्मा ही 84 जन्म लेती है। परन्तु मनुष्य न जानने के कारण अनराइटियस बन पड़े हैं। एक बाप ही आकर राइटियस बनाते हैं। रावण अनराइटियस बनाते हैं। चित्र तो तुम्हारे पास हैं। बाकी ऐसा 10 शीश वाला रावण कोई होता नहीं। सतयुग में तो रावण है नहीं, यह तो क्लीयर है। परन्तु जो सुनने वाले होंगे वह कहेंगे यहाँ का सैपलिंग है। कोई थोड़ा सुनेंगे, कोई बहुत भी सुनेंगे। भक्ति मार्ग का देखो विस्तार कितना है। अनेक प्रकार के भक्त हैं। और फिर पहले से ही सुना है – भगाते थे। कृष्ण के लिये भी कहते हैं ना – भगाया। फिर ऐसे कृष्ण को प्यार क्यों करते हैं? पूजते क्यों हैं? तो बाप बैठ समझाते हैं, कृष्ण तो फर्स्ट प्रिन्स है। वह तो कितना बुद्धिवान होगा। सारे विश्व का मालिक क्या कम बुद्धिवान होगा! वहाँ उन्हों को वजीर आदि होते नहीं। राय लेने की दरकार नहीं। राय लेकर तो सम्पूर्ण बना है, फिर राय क्या लेंगे! तुमको आधाकल्प कोई की राय नहीं लेनी होती है। स्वर्ग और नर्क का नाम भी सुना है। यह तो स्वर्ग हो न सके। पत्थरबुद्धि हैं जो समझते हैं यहाँ हमको धन है, महल आदि सब हैं, यही स्वर्ग है। परन्तु तुम जानते हो स्वर्ग तो है नई दुनिया। स्वर्ग में तो सब सद्गति में होते हैं। स्वर्ग-नर्क इकट्ठा थोड़ेही होगा। स्वर्ग किसको कहा जाता है, उसकी आयु कितनी है – यह सब बाप ने तुम्हें समझाया है। दुनिया तो एक ही है। नई को सतयुग, पुरानी को कलियुग कहा जाता है। अब भक्ति मार्ग ख़लास होना है। भक्ति के बाद चाहिए ज्ञान। सभी जीव आत्मायें पार्ट बजाते-बजाते पतित बनी हैं। यह भी बाप ने समझाया है। तुम सुख जास्ती पाते हो। 3/4 है सुख, बाकी 1/4 है दु:ख। इसमें भी जब तमोप्रधान हो जाते हैं तब दु:ख जास्ती होता है। आधा-आधा हो तो मजा ही कैसे हो। मजा तब है जबकि स्वर्ग में दु:ख का नाम-निशान नहीं रहता, तब तो स्वर्ग को सब याद करते हैं। नई दुनिया और पुरानी दुनिया का यह बेहद का खेल है, जिसको कोई जान नहीं सकता। बाप भारतवासियों को ही समझाते हैं, बाकी जो सब हैं, वह आधाकल्प में ही आते हैं। आधाकल्प में हो सिर्फ तुम सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी। तुम पवित्र रहते हो इसलिए तुम्हारी आयु बड़ी रहती है और दुनिया भी नई है। वहाँ एवरीथिंग न्यु है, अनाज, पानी, धरनी आदि सब नया। आगे चलकर तुम बच्चों को सब साक्षात्कार कराते रहेंगे कि ऐसे-ऐसे होगा। शुरू में भी हुए, फिर पिछाड़ी में भी होने चाहिए। नज़दीक आयेंगे तो खुशी होती रहेगी। मनुष्य बाहर देश से अपने देश में आते हैं तो खुशी होती है ना। कोई बाहर में कहाँ मरते हैं तो उनको एरोप्लेन से भी अपने देश में ले आते हैं। सबसे फर्स्टक्लास पवित्र ते पवित्र धरनी भारत है। भारत की महिमा को तुम बच्चों के सिवाए और कोई जानते ही नहीं। वन्डर ऑफ दी वर्ल्ड है ना – उसका नाम है स्वर्ग। वह जो वन्डर्स दिखाते हैं, वह हैं सब नर्क के। कहाँ नर्क के वन्डर्स, कहाँ स्वर्ग के – रात-दिन का फ़र्क है! नर्क के वन्डर्स भी बहुत मनुष्य देखने जाते हैं। कितने ढेर मन्दिर हैं। वहाँ तो मन्दिर होते नहीं। नैचुरल ब्युटी रहती है। मनुष्य बहुत थोड़े होते हैं। सुगन्ध आदि की भी दरकार नहीं रहती है। हर एक को अपना-अपना फर्स्टक्लास बगीचा रहता है, फर्स्टक्लास फूल होते हैं। वहाँ की तो हवा भी फर्स्टक्लास होगी। गर्मी आदि कभी तंग नहीं करेगी। सदैव बहारी मौसम रहेगा। अगरबत्ती की भी दरकार नहीं। स्वर्ग का तो नाम सुनते ही मुख पानी होता है। तुम कहेंगे ऐसे स्वर्ग में तो झट पहुँचें, क्योंकि तुम स्वर्ग को जानते हो परन्तु फिर दिल कहती है – अभी तो हम बेहद के बाप के साथ हैं, बाप पढ़ाते हैं, ऐसा चांस फिर थोड़ेही मिलेगा। यहाँ मनुष्य, मनुष्य को पढ़ाते, वहाँ देवतायें, देवताओं को पढ़ायेंगे। यहाँ तो बाप पढ़ाते हैं। रात-दिन का फ़र्क है! कितनी खुशी होनी चाहिए।

84 जन्म भी तुमने लिये हैं। तुम ही वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी को जानते हो कि हमने तो अनेक बार यह राज्य लिया फिर रावण राज्य में आये। अब बाप कहते हैं, तुम एक जन्म पवित्र बनो तो 21 जन्म तुम पावन बन जायेंगे। क्यों नहीं बनेंगे! परन्तु माया ऐसी है, भाई-बहन की भी दाल नहीं गलती, कच्चे रह जाते हैं। दाल गले तब, जब अपने को आत्मा समझ भाई-भाई समझो। देह का भान निकल जाए। यह है मेहनत। सहज भी बहुत है। कोई को कहेंगे बहुत डिफीकल्ट है तो उनकी दिल हट जायेगी इसलिए इसका नाम ही है सहज याद। ज्ञान भी सहज है। 84 के चक्र को जानना है, पहले-पहले बाप का परिचय देना है। बाप की याद से ही आत्मा की जंक उड़ जायेगी और पवित्र दुनिया का वर्सा पायेंगे। पहले बाप को याद करो। भारत का प्राचीन योग ही कहते हैं, जिससे भारत को विश्व की बादशाही मिलती है। प्राचीन कितने वर्ष हुए? तो लाखों वर्ष कहते। तुम जानते हो 5 हज़ार वर्ष की बात है, वही राजयोग फिर से बाप सिखला रहे हैं, इसमें मूँझने की दरकार ही नहीं। पूछा जाता है तुम आत्माओं का निवास स्थान कहाँ है? तो कहेंगे हमारा निवास स्थान भ्रकुटी है। तो आत्मा को ही देखना पड़े। यह ज्ञान तुमको अभी मिलता है फिर वहाँ ज्ञान की दरकार ही नहीं रहेगी। मुक्ति-जीवनमुक्ति को पा लिया, ख़लास। मुक्ति वाले भी अपने समय पर जीवनमुक्ति में आकर सुख पायेंगे। सब जीवनमुक्ति में आते हैं वाया मुक्ति। यहाँ से जायेंगे शान्तिधाम और कोई दुनिया है नहीं। ड्रामा अनुसार सबको वापिस जाना ही है। विनाश की तैयारियां हो रही हैं। इतना खर्चा कर बाम्ब्स बनाते हैं सो रखने के लिए थोड़ेही बनाते हैं। बारूद है ही विनाश के लिए। सतयुग-त्रेता में यह चीजें होती नहीं। अब 84 जन्म पूरे हुए, हम यह शरीर छोड़ घर जायेंगे। दीपमाला पर सब नये-नये अच्छे-अच्छे कपड़े पहनते हैं ना। तुम आत्मा भी नई बनती हो। यह है बेहद की बात। आत्मा पवित्र बनने से शरीर भी फर्स्टक्लास मिलता है। इस समय आर्टीफिशल फैशन करते हैं, पाउडर आदि लगाकर खूबसूरत बन जाते हैं। वहाँ तो नैचुरल ब्युटी होती है। आत्मा एवर ब्युटीफुल बन जाती है। यह तो तुम समझते हो। स्कूल में सब एक जैसे नहीं होते। तुम भी पुरुषार्थ करते हो – हम ऐसा लक्ष्मी-नारायण बनें।

यह है तुम्हारा ईश्वरीय कुल। फिर होता है सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी घराना। तुम ब्राह्मणों में राजाई नहीं है। तुम अभी संगम पर हो। कलियुग में अब राजाई है नहीं। भल कोई राजाई रह भी जाती, निल तो कभी होती नहीं। अब तुम यह बनने लिए पुरुषार्थ कर रहे हो। देखेंगे हम आत्मायें भाई-भाई हैं और वह है बाप। बाप कहते हैं एक दो को भाई-भाई देखो। तीसरा नेत्र ज्ञान का तो मिला है। तुम आत्मा कहाँ निवास करती हो? आत्मा भाई पूछता है, आत्मा कहाँ रहती है? तो कहते हैं – यहाँ, भ्रकुटी में। यह तो कॉमन बात है। एक बाप के सिवाए कुछ भी याद न आये। पिछाड़ी में तो शरीर भी ऐसे बाप की याद में छूटे – यह प्रैक्टिस पक्की करनी है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सतयुग में फर्स्टक्लास सुन्दर शरीर प्राप्त करने के लिए अभी आत्मा को पावन बनाना है, कट उतार देनी है। आर्टीफिशल फैशन नहीं करना है।

2) एवर पवित्र बनने के लिए प्रैक्टिस करनी है कि एक बाप के सिवाए कुछ भी याद न आये। यह देह भी भूली हुई हो। भाई-भाई की दृष्टि नैचुरल पक्की हो।

वरदान:- दृढ़ संकल्प रूपी व्रत द्वारा वृत्तियों का परिवर्तन करने वाले महान आत्मा भव
महान बनने का मुख्य आधार है “पवित्रता”। इस पवित्रता के व्रत को प्रतिज्ञा के रूप में धारण करना अर्थात् महान आत्मा बनना। कोई भी दृढ़ संकल्प रूपी व्रत वृत्ति को बदल देता है। पवित्रता का व्रत लेना अर्थात् अपनी वृत्ति को श्रेष्ठ बनाना। व्रत रखना अर्थात् स्थूल रीति से परहेज करना, मन में पक्का संकल्प लेना। तो पावन बनने का व्रत लिया और हम आत्मा भाई-भाई हैं – यह ब्रदरहुड की वृत्ति बनाई। इसी वृत्ति से ब्राह्मण महान आत्मा बन गये।
स्लोगन:- व्यर्थ से बचना है तो मुख पर दृढ़ संकल्प का बटन लगा दो।

TODAY MURLI 18 MAY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 18 May 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 17 May 2019 :- Click Here

18/05/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father is the saccharine of love of all relationships. Remember the one sweet Beloved and your intellects will move away from all other directions.
Question: What is the easy effort you make the way to become karmateet?
Answer: Make effort for your vision of brotherhood to become firm. Forget everything except the one Father from your intellect. When you don’t remember any bodily relationships, you can become karmateet. The destination of your effort is to consider yourselves to be souls, brothers. By considering yourselves to be brothers, body-conscious vision and all vicious thoughts will end.

Om shanti. Double Om shanti. It is in the intellects of only you children how it is double. The Father sits and explains to only you children. First of all, you should have faith in the Father because He is the Father, Teacher and also the Guru. In the world, all three are separate. You have a teacher when you are young, and a guru is adopted after the age of 60. However, when that One comes here, He does all three types of service at the same time. He says: All – young and old – can study here. Children’s brains are very good and fresh. You children understand surely that young and old are all living souls. A soul enters a living body. There is a difference between a soul and a living body. Here, you children are given the knowledge of souls and the Supreme Soul. Souls are imperishable, but bodies are created here through corruption. There, there is no mention of corruption. It is remembered that that is the completely viceless world. There are the words “elevated” and “corrupt”. Only the Father explains all of these things. You children should simply have the firm faith that the Father of us souls is teaching us. The Father comes at the most auspicious confluence age. So, this proves that, from being the lowest, He makes you the most elevated. This world is degraded and tamopradhan; it is called the extreme depths of hell. We now have to return home, and this is why you have to consider yourselves to be souls. The Father has come to take you back. Have the firm faith that we are brothers. This body will not remain, and the vision of vice will end. This is a high destination. Very few can reach this destination because it requires effort. Nothing should be remembered at the end. That is called the karmateet stage. Even this body is perishable. You have to remove your attachment from it. You mustn’t have any attachment to old relationships. You now have to go into new relationships. The old devilish relationship between husband and wife is so dirty. The Father says: Consider yourselves to be souls. You now have to return home. If you consider yourselves to be souls, there will no longer be the consciousness of bodies. The attraction between male and female will be removed. It is written: Those who remember a woman at the end, those who die with such thoughts… This is why it is said: “At the final moments, let there be the water of the Ganges in your mouth and also the remembrance of Krishna.” On the path of devotion, they remember Krishna. They say: God Krishna speaks. Here, the Father says: You mustn’t even remember your body. Consider yourself to be a soul and continue to remove your heart from everything else. In all relationships, the love of the One becomes like saccharine. He is the sweetest Beloved of everyone. There is just the one Beloved, but, on the path of devotion, they have given Him so many names. There is a lot of expansion of devotion: sacrificial fires, tapasya, making donations, going on pilgrimages, holding fasts and reading scriptures are all the paraphernalia of devotion. There is no paraphernalia of knowledge. You continue to note this down to explain to others, but none of your paper etc. will remain. The Father explains: Children, you came from the land of peace. You were peaceful. You claim the inheritance of peace and purity from the Ocean of Peace. You are now claiming your inheritance. You are also receiving knowledge. Your status is in front of you. No one, apart from the Father, can give this knowledge. This is spiritual knowledge. The spiritual Father only comes once in order to give this spiritual knowledge. He is called the Purifier. Baba sits here and conducts drill for the children in the morning. In fact, this should not even be called drill. The Father simply says: Children, consider yourselves to be souls and remember Me. It is so easy. You are souls. Where have you come from? From the supreme abode. No one else would ask you this. Only the parlolik Father asks you children: Children, you came from the supreme abode and entered those bodies to play your parts. You have played your parts and the play has now come to an end. When souls became impure, their bodies also became impure. Alloy is mixed in gold and so it is then melted. Those sannyasis would never explain this meaning. They don’t even know God. They don’t even believe in having yoga with the Father. No one else can teach you what the Father teaches you. Here, you have to make effort practically. The Father explains to you so easily. It is remembered: He is the Purifier, the Almighty Authority. He alone is called Shri Shri. Deities are also called Shri. It suits them because both souls and bodies there are pure. No one can say that souls are immune to the effect of action. It is the soul that takes 84 births. However, because of not having knowledge, people have become unrighteous. Only the one Father comes and makes you righteous. Ravan makes you unrighteous. You have the pictures. There isn’t a Ravan with ten heads. Ravan doesn’t exist in the golden age. This is very clear. However, for those who listen to your knowledge, it is said that they are saplingswho belong here. Some listen to only a little and others listen to a lot. Look how much expansion there is on the path of devotion! There are many types of devotees. In the beginning they heard that women were abducted. They also say of Krishna that he abducted women. In that case, why do they love and worship such a Krishna? The Father sits here and explains that Krishna is the first prince. He would be so wise. Would someone who is the master of the whole world have so little wisdom? There, they don’t have advisers etc., they don’t need to take advice. Having taken advice, he became perfect so what other advice would he take? You don’t need to take anyone’s advice for half the cycle. You have heard the names of heaven and hell. This place cannot be heaven. Those who have stone intellects consider this to be heaven because they have wealth and palaces and everything else here. However, you know that the new world is heaven. In heaven, all are in salvation. Heaven and hell cannot exist at the same time. What is called heaven? How long is its duration? The Father has explained all of these things to you. It is one and the same world. The new world is called the golden age and the old world is called the iron age. The path of devotion is now ending. After devotion, there has to be knowledge. All living beings have become impure while playing their parts. The Father has explained that you receive greater happiness. There is three quarters happiness and one quarter sorrow. In this too, you have greater sorrow when you become tamopradhan. If it were half and half, how would you enjoy it? There is pleasure when there is no name or trace of sorrow, when it is heaven. This is why everyone remembers heaven. No one knows about this unlimited play of the old world and the new world. The Father only explains to the people of Bharat. All the others come in the second half of the cycle. In the first half of the cycle, there are just you who belong to the sun dynasty and the moon dynasty. You remain pure and this is why you have a long lifespan and the world is also new. There, everything is new: food, water, land etc. are all new. As you make further progress, you children will be given visions of how everything will be in the golden age. You had visions in the beginning and so you will also have them at the end. As you come closer, you will be happy. When a person returns to his own country from abroad, he becomes happy. When a person dies abroad, his body is brought back to his own country by plane. The purest and most firstclass land was Bharat. No one, apart from you children, knows the praise of Bharat. It was the wonder of the world. It was called heaven. The wonders that people show are the wonders of hell. There is the difference of day and night between the wonders of heaven and the wonders of hell. Many people go to see the wonders of hell. There are so many temples. There are no temples there. There is natural beauty there. There are very few human beings there. There is no need for any perfume etc. Each one of you will have your own firstclassgarden in which there will be first-class flowers. The air there will also be firstclass. You won’t be troubled by hot weather etc., it will always be Spring. There is even no need for incense sticks. As soon as you hear the name of heaven, your mouth begins to water. You would say: We should quickly go to such a heaven, because you know heaven. However, your hearts then say: At this time we are with the unlimited Father. The Father is teaching us. We will not receive such a chance again. Here, human beings teach human beings. There, deities teach deities. Here, it is the Father who is teaching you; there is the difference of day and night. You should have so much happiness. You have taken 84 births. Only you know the history and geography of the world: We claimed the kingdom many times and went into the kingdom of Ravan again. The Father now says: Become pure for one birth and you will then become pure for 21 births. Why will you not become that? However, Maya is such that there is impure vision between brother and sister too; they remain weak. There will be no problem (pure vision) when you consider yourselves to be souls and brothers. Remove the consciousness of the body. This requires effort. It is very easy. If you tell someone that it is difficult, his heart would move away. So, this is why it is called easy remembrance. Knowledge is also easy. You have to know the cycle of 84 births. First of all, give the Father’s introduction. The rust on the soul will be removed by having remembrance of the Father. You will then receive the inheritance of the pure world. First of all, remember the Father. People speak of the ancient yoga of Bharat through which Bharat receives the sovereignty of the world. How many years ago is “ancient”? They say that it was hundreds of thousands of years ago. You know that it is a matter of only 5000 years. The Father is once again teaching you that same Raja Yoga. There is no need to be confused about this. You are asked: Where is the residence of you souls? You say that you reside in the centre of the forehead. So, you have to look at the soul. You receive this knowledge at this time. Then, there will be no need for knowledge there. Once you have received liberation and liberation-in-life, that’s all. Those who have received liberation will go into liberation-in-life at their own time and experience happiness. Everyone goes into liberation-in-life via liberation. You will go to the land of peace from here. There is no other world. According to the drama, everyone has to go back. Preparations are being made for destruction. They spend so much money on manufacturing bombs, but they are not manufacturing them just to keep them. The armaments are all for destruction. These things do not exist in the golden and silver ages. Your 84 births have now ended. We will shed our bodies and go back home. Everyone wears good, new clothes at Deepmala. You souls are also becoming new. This is an unlimited matter. When souls becomes pure, they receive first-class bodies. At this time, people follow artificial fashion. They put on powder etc. to look beautiful. There is natural beauty there. Souls become everbeautiful. You understand in a school that not everyone is the same. You are also making effort to become like Lakshmi and Narayan. This is your Godly clan. Then, there will be the sun dynasty and moon dynasty clans. You Brahmins do not have a kingdom. You are now at the confluence age. There aren’t any kingdoms now in the iron age. There may be some kingdoms left, because it never becomes nil. You are now making effort to become that. You souls see that you are brothers and that that One is the Father. The Father says: See one another as brothers. Each of you has received the third eye of knowledge. Where do you souls reside? The soul, the brother asks: Where does the soul reside? You say: Here, in the centre of the forehead. This is something common. You mustn’t remember anything except the one Father. At the end, you will even shed your bodies in remembrance of the Father. You have to make this practice firm. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to attain a firstclass beautiful body in the golden age, make the soul pure now. Remove the rust. Do not follow artificial fashion.
  2. In order to become everpure, practise not remembering anyone except the one Father. You should even forget that body of yours. Make the vision of brotherhood firm and natural.
Blessing: May you become a great soul by transforming the attitudes of others with your vow of determined thoughts.
The main basis for becoming great is purity. To observe the vow of purity in the form of a promise means to be a great soul. Any vow of a determined thought transforms the attitude. To observe the vow of purity means to make your attitude elevated. To observe a vow means to observe the precautions in a physical way and to have this thought firmly in your mind. When you made a vow to become pure you made your attitude one of souls being brothers, the attitude of brotherhood. Brahmins with this attitude become great souls.
Slogan: In order to stop wastage, put a button of determination on your lips.

*** Om Shanti ***

TODAY MURLI 18 MAY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 18 May 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 17 May 2018 :- Click Here

18/05/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, never remember this physical body (Brahma). Although your eyes see this one, you have to remember Shiv Baba, the Supreme Teacher.
Question: By understanding which law, can you children not accept any flowers or garlands at this time?
Answer: You know that only those pure souls whose bodies are also pure are worthy of flowers and garlands. Therefore, in accordance with this law, you cannot accept flowers or garlands. Baba says: I too cannot accept your flowers and garlands because I neither become worthy of worship nor a worshipper. I am your obedient Father and Teacher.
Song: Leave Your throne in the sky and come down to earth! 

Om shanti. You sweetest, beloved, long-lost and now-found children heard the song. This song finishes the idea of omnipresence. You recall that Bharat has now become very unhappy. All of those songs have been composed according to the drama. People of the world do not know that the Father has come to purify the impure, that is, He has come to liberate unhappy people from their sorrow. He comes to remove sorrow and bestow happiness. You children have now received recognition and have come to know that the same Father has come. He Himself sits here and explains: I enter an ordinary body and tell you children the secrets of the beginning, the middle and the end of the whole world. There is only one world; it simply becomes new and old, just as a body is new in childhood and then becomes old. You would not say that there are two bodies, a new body and an old body; there is just one body which simply changes from new to old. In the same way, there is only one world and, from new, it has now become old. However, no one can tell you when it was new. The Father comes and explains: Children, when the world was new, Bharat was new; it was called the golden age. That same Bharat has now become old and this is called the old world. From the new world, it has become the old world. It definitely has to become new again. Some children have had visions of the new world. Achcha, who were the masters of that new world? It must definitely have been Lakshmi and Narayan. The original eternal deities were the masters there. It is the Father who is explaining to you children. The Father says: Now constantly remember that the Father has come from the supreme abode to educate you by teaching you Raja Yoga. All praise belongs to the One alone. There is no praise of this one (Brahma). At this time, everyone’s intellect is degraded; no one understands anything at all. This is why I have come and this song has been composed. This song finishes the concept of omnipresence. Each one has his own part to play. The Father repeatedly says: Renounce body consciousness, become soul conscious and remember Shiv Baba. Just consider Shiv Baba to be doing everything and that Brahma is not present. Although your eyes can see this one’s form, your intellects should be drawn to Shiv Baba. If it were not for Shiv Baba, this soul and body would be of no use at all. Always consider Shiv Baba to be in this one and teaching you through him. This one (Brahma) is not your Teacher. That One is the Supreme Teacher and it is Him you have to remember. Never remember this body. When you connect your intellects in yoga to the Father, the idea of omnipresence will no longer remain. Children remember Him and ask Him to come and teach them knowledge and yoga once again. No one, except the Supreme Father, the Supreme Soul, can teach Raja Yoga. It is in the intellects of you children that the Father Himself speaks the knowledge of the Gita. This knowledge then disappears. Once the kingdom has been established and everyone has attained salvation, there is no need for it. Knowledge is given in order to take souls from degradation to salvation. Everything else belongs to the path of devotion. Chanting, tapasya, penance and charity etc., whatever they do, it all belongs to the path of devotion. No one can meet Me through that. The wings of souls are broken. Souls have become like stone, so I have to come to change them from stone and make them divine. The Father says: Look how many people there are! It is as though the world is as full of human beings as there are mustard seeds. They are all going to be destroyed. There aren’t that many human beings in the golden age. There are plenty of material comforts and very few people in the new world. Here, there are so many human beings that there isn’t even enough food to eat. The earth is old and barren; later it will become new again. There, everything is new. Even the name Heaven, Paradise, is so sweet! It is the new world of deities. There is the desire to demolish the old home and sit in the new one. There is now just the desire to go to the new world of heaven. This old body has no value at all. Shiv Baba doesn’t have a body. Children say that they want to garland Him. However, if you garland Him, your intellects’ yoga will go to this one. Shiv Baba says: I have no need of garlands. You are the ones who become worthy of worship and you are the ones who become worshippers. Therefore, you begin to worship your own images. Baba says: Neither do I become worthy of worship nor do I need to have flowers etc. Why should I wear them? Therefore, He never accepts flowers. You can accept as many flowers as you like when you become worthy of worship. I am the most obedient FatherTeacher and Servant of you children. When great or royal people sign their names, they write: “Minto or “Curzon”(British viceroys). They never write “Lord So-and-so” whereas here, they write “Shri, Shri Lakshmi-Narayan” or Shri So-and so”. They clearly write the word “Shri”. So, the Father sits here and explains to you children: Children, do not remember this body. Have the faith that you are souls and remember the Father. In this old world, both souls and bodies are impure. When the gold is nine carat, the jewellery would also be nine carat. Alloy is mixed into the gold. Therefore, do not consider souls to be immune to the effect of action. Only you have this knowledge. You attain your reward in the golden age for 21 births, and so how much effort you should make! However, you children repeatedly forget that Shiv Baba is giving you these teachings through Brahma. The Brahma soul also remembers Him. All devotees remember the one God. However, because they have become tamopradhan, they have forgotten the Father and started worshipping stones, pebbles and everything else. We understand that whatever takes place is shot in the drama. Once the shooting of a drama has taken place – for instance, a bird or something flying past – that is what will be repeated in that particular scene. If a butterfly flies by while s hooting is taking place, that too will continue to repeat. Therefore, this drama also continues to repeat second by second ; it continues to be shot. This drama is preordained and predestined and you are the actors. You watch the whole drama as observers. Every secondpasses by according to the drama. If a leaf moves, that happened according to the drama. It is not that each leaf moves according to God’s orders. All of that is fixed according to the drama. This has to be explained very clearly. The Father comes and teaches Raja Yoga and gives knowledge of the drama. The pictures that have been made are very good. Even the hand (of the clock) is also shown at the confluence age. It is the confluence of the end of the iron age and the beginning of the golden age. There are now many religions in the old world. They will not exist in the new world. You children should always consider it to be the Father who is teaching you. We are Godly students. God speaks: I make you into kings of kings. Even the kings worship Lakshmi and Narayan. I am also the One who makes them worthy of worship. Those who were worthy of worship have now become worshippers. You children now understand that we were the ones who were worthy of worship and that we are the ones who later became worshippers. Baba does not become this. According to the law, you cannot accept flowers or garlands etc. Only those pure souls whose bodies are also pure have the right to accept flowers. There, in heaven, there are only fragrant flowers. Flowers are there for you to take their fragrance. Flowers are also used for making garlands. The Father says: You children are now becoming the garland around Vishnu’s neck. You have to sit on the throne, numberwise. To whatever extent you made effort in the previous cycle, so you are accordingly doing that now and will continue to do so, although that, too, is numberwise. The intellect says that such-and-such a child is very serviceable. Just as in a shop, someone is the owner, someone else becomes his partner and another becomes the manager, so it is the same here. You children have to gain victory over the mother and father. You are wonderstruck as to how you can go ahead of the mother and father. The Father makes effort and makes the children worthy of claiming the throne. This is why he says that you win his throne. You gain victory over each other, do you not? Make so much effort that you become Narayan from ordinary man. There is only one aim and objective. It is said that a kingdom is being established but, within that, there is a variety of status. Make full effort to conquer Maya. Take care of your children etc. with a lot of love but as trustee s. On the path of devotion, you used to say: God, everything has been given by You! If He reclaims His property, there is no question of crying over that. However, this is the world of tears. Human beings who relate stories also tell a story of the king who conquered attachment. There, no one feels sorrow; they shed their bodies and take others. There is never any illness there. Bodies remain ever healthy and free from disease. Some children have had visions of everything: how marriage etc. takes place there, what kind of costumes they wear and what customs and systems they have. That part has now passed. At that time, you didn’t have as much knowledge. Now, day by day, you children are receiving a great deal of power with full force. This part is also fixed in the drama. It is a wonder that even the Supreme Soul has such a huge part. He Himself sits here and explains: Although I only come down once every cycle, I sit in Brahmand and do a great deal of work. I only come once in a cycle. There are many worshippers of the incorporeal One, but they have lost the knowledge of how the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, comes and teaches. Because they have put Shri Krishna’s name in the Gita, their love for the incorporeal One has been broken. It was the Supreme Soul who taught easy Raja Yoga and showed that to the world. The world continues to change; the ages also continue to change. You have now come to understand the cycle of this drama. Human beings do not know anything at all; they don’t even know the deities of the golden age. Only signs of the deities remain. The Father explains: Always consider yourself to belong to Shiv Baba and Shiv Baba to be teaching you. When you realize that Shiv Baba is giving you teachings through this body of Brahma, you will experience a great deal of pleasure in remembering Shiv Baba. Who else could be called God the Father? He is the Father, as well as the Teacher. However, it is not possible for that father to be a guru. A father can also be a teacher but he could never be called a guru. This one’s (Brahma Baba’s) father was a teacher and used to teach. I also used to study. That is a limited father and teacher. This One is the unlimited Father and Teacher. Even if you consider yourself to be a Godly student, that too is great fortune. God , the Father , is teaching you. It is so clear! He is such a sweet Father! Sweet things are always remembered. A lover and beloved have love for each other. Their love is not impure; they just continue to look at one another, that’s all. However, your love is love of the soul for the Supreme Soul. The soul says: Baba is such an Ocean of Knowledge and Love that He comes into this impure world and enters this impure body and makes us so elevated! There is also a song that says “It didn’t take God long to change human beings into deities.” You go to heaven in a second. You become deities from human beings in a second. This is the aim and objective for which you have to study. Guru Nanak said: God washes all the impure clothes. His soap is Lux (laksh – aim). Baba says: I am such a great Laundryman. I make your clothes (soul and body) completely clean. Have you ever seen such a Laundryman? I make souls that have become totally dirty so clean with the power of yoga. So, never remember this one (Dada). This whole task is Shiv Baba’s. Therefore, remember Him. He is sweeter than this Brahma. He tells you souls: Although your eyes see the chariot of this Brahma, you have to remember Shiv Baba. Shiv Baba is making you worth diamonds from shells through this one. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from

the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Remain constantly aware that you are Godly students and thatGod, the Teacher , is teaching you. While living at home, become a complete trustee.
  2. Never accept any flowers or garlands at this time. In order to become the garland around Vishnu’s neck, make effort to gain victory over Maya.
Blessing: May you die alive and with the awareness of your alokik life, transform your attitude, awareness and vision.
Brahmin life is said to be an alokik life and alokik means not of this world. Let there be transformation in everything – in your vision, awareness and attitude. Let there always be the attitude of brotherhood or of brother and sister. Let there be the attitude that all of you belong to one family and see the soul, not the body. You would then be said to have died alive. When you have received such an elevated life, you cannot remember your past life.
Slogan: Constantly stay in a pure feeling and no flu of impure feelings will come near you.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 18 MAY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 18 May 2018

To Read Murli 17 May 2018 :- Click Here
18-05-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – कभी जिस्म (साकार शरीर) को याद नहीं करना है, ऑखों से भल इन्हें देखते हो परन्तु याद सुप्रीम टीचर शिवबाबा को करना है”
प्रश्नः- तुम बच्चे किस एक कायदे को जानने के कारण हार-फूल अभी स्वीकार नहीं कर सकते?
उत्तर:- हम जानते हैं कि जिनकी आत्मा और शरीर दोनों पवित्र हैं, वही हार-फूल के हकदार हैं। इस कायदे अनुसार हम फूल-हार स्वीकार नहीं कर सकते। बाबा कहते हैं मैं भी तुम्हारे फूल-हार स्वीकार नहीं करता क्योंकि मैं न पूज्य बनता हूँ, न पुजारी। मैं तो तुम्हारा ओबीडियन्ट फादर और टीचर हूँ।
गीत:- छोड़ भी दे आकाश सिंहासन… 

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों ने गीत सुना। इस गीत से सर्वव्यापी का ज्ञान उड़ जाता है। याद करते हैं अब भारत बहुत दु:खी है। ड्रामा अनुसार यह सब गीत बने हुए हैं। दुनिया वाले नहीं जानते हैं। बाप आते हैं पतितों को पावन बनाने वा दु:खियों को दु:ख से लिबरेट करने। दु:ख हरकर सुख देने लिए। बच्चे जान गये हैं वही बाप आया हुआ है। बच्चों को पहचान मिल गई है। स्वयं बैठ बतलाते हैं मैं साधारण तन में प्रवेश कर फिर तुम बच्चों को सारे सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का राज़ बताता हूँ। सृष्टि एक ही है सिर्फ नई और पुरानी होती है। जैसे शरीर बचपन में नया होता है फिर पुराना होता है। नया शरीर, पुराना शरीर – दो चीज़ तो नहीं कहेंगे। है एक ही, सिर्फ नये से पुराना बनता है। वैसे दुनिया एक ही है, नई से अब पुरानी हुई है। नई कब थी – यह फिर कोई भी बता नहीं सकते हैं। बाप आकर समझाते हैं – बच्चे, जब नई दुनिया थी तो भारत नया था। सतयुग कहा जाता है। वही भारत अब पुराना बना है। इसको पुरानी ओल्ड वर्ल्ड कहा जाता है। न्यु वर्ल्ड से फिर ओल्ड बनी है, फिर इनको नया जरूर बनना है। नई दुनिया का बच्चों ने साक्षात्कार किया है। अच्छा, उस नई दुनिया के मालिक कौन थे? बरोबर यह लक्ष्मी-नारायण थे। आदि सनातन देवी-देवतायें मालिक थे, यह बाप बच्चों को समझा रहे हैं। बाप कहते हैं अब निरन्तर यही याद करो। बाप परमधाम से हमको पढ़ाने, राजयोग सिखाने आया हुआ है। महिमा सारी उस एक की ही है, इनकी महिमा कुछ नहीं है। इस समय सब तुच्छ बुद्धि हैं, कुछ नहीं समझते हैं, इसलिए मैं आता हूँ तब तो यह गीत भी बना हुआ है। सर्वव्यापी का ज्ञान तो उड़ जाता है। हरेक का पार्ट अपना-अपना है। बाप बार-बार कहते हैं देह-अभिमान छोड़ देही-अभिमानी बनो और याद शिवबाबा को करो। ऐसे ही समझो – शिवबाबा ही सब कुछ करते हैं। ब्रह्मा है ही नहीं। भल इनका रूप इन ऑखों से दिखाई पड़ता है परन्तु तुम्हारी बुद्धि शिवबाबा के तऱफ जानी चाहिए। शिवबाबा न हो तो इनकी आत्मा इनका शरीर कोई काम का नहीं है। हमेशा समझो इसमें शिवबाबा है जो इस द्वारा पढ़ाते हैं। तुम्हारा यह टीचर नहीं है। सुप्रीम टीचर वह है, याद उनको करना है। कभी भी इस जिस्म को याद नहीं करना है। बुद्धियोग बाप के साथ लगाना है। तो सर्वव्यापी का ज्ञान ठहर भी न सके। बच्चे याद करते हैं फिर से आकर ज्ञान योग सिखाओ। परमपिता परमात्मा के सिवाए तो कोई राजयोग सिखला न सके। तुम बच्चों की बुद्धि में है कि यह गीता का ज्ञान स्वयं बाप सुनाते हैं, फिर यह ज्ञान प्राय:लोप हो जाता है। वहाँ दरकार ही नहीं है। राजधानी स्थापन हो गई, सद्गति हो जाती है। ज्ञान दिया जाता है दुर्गति से सद्गति में जाने लिए। बाकी वह तो सब हैं भक्ति मार्ग की बातें। मनुष्य जप, तप, दान, पुण्य आदि जो कुछ भी करते हैं सब भक्ति मार्ग की बातें हैं, इससे मुझे कोई मिल नहीं सकता है। आत्मा के पंख टूट गये हैं। पत्थर बन गये हैं। पत्थर से फिर पारस बनाने मुझे आना पड़ता है।

बाप कहते हैं अब कितने मनुष्य हैं, सरसों मिसल संसार भरा हुआ है। सब खत्म हो जाने हैं। सतयुग में तो इतने मनुष्य होते नहीं। नई दुनिया में वैभव बहुत, मनुष्य थोड़े होते हैं। यहाँ तो इतने मनुष्य हैं जो खाने के लिए भी नहीं मिलता है। पुरानी कलराठी जमीन है। फिर नई हो जायेगी। वहाँ है एवरीथिंग न्यु। नाम ही कितना मीठा है – हेविन, बहिश्त। देवताओं की नई दुनिया। पुराने घर को तोड़ नये में बैठने की दिल होती है ना। अब है नई दुनिया स्वर्ग में आने की तात (लगन)। इस पुराने शरीर की कोई वैल्यु नहीं है। शिवबाबा को तो कोई शरीर है नहीं। बच्चे कहते हैं हार पहनायें। लेकिन इनको हार पहनायेंगे तो तुम्हारा बुद्धियोग इसमें चला जायेगा। शिवबाबा कहते हैं हमको हार की दरकार नहीं है, तुम ही पूज्य बनते हो। पुजारी भी बनते हो। आपे ही पूज्य, आपे ही पुजारी बनते हो। तो अपने ही चित्र की पूजा करने लग पड़ते हो। बाबा कहते हैं – मैं न पूज्य बनता हूँ, न फूलों आदि की दरकार है। मैं क्यों पहनूँ? इसलिए कब फूल लेते नहीं हैं। तुम जब पूज्य बनो फिर जितना चाहिए उतना फूल पहनना। मैं तो तुम बच्चों का मोस्ट ओबीडियन्ट फादर भी हूँ, टीचर भी हूँ, सर्वेन्ट भी हूँ। बड़े-बड़े रॉयल आदमी जब नीचे सही डालते हैं तो लिखते हैं – मेन्टोकरजिन… अपने को लार्ड कभी नहीं लिखते हैं। यहाँ तो लिखते – श्री श्री लक्ष्मी-नारायण, श्री फलाना। एकदम ‘श्री’ अक्षर डाल देते हैं। तो बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं – बच्चे, अब इस शरीर को याद न करो। अपने को आत्मा निश्चय करो और बाप को याद करो। इस पुरानी दुनिया में आत्मा और शरीर दोनों ही पतित हैं। सोना 9 कैरेट का होगा तो जेवर भी 9 कैरेट का होगा। सोने में ही खाद पड़ती है। तो आत्मा को निर्लेप नहीं समझना चाहिए। तुमको अभी ही यह ज्ञान है फिर 21 जन्मों के लिए प्रालब्ध पा लेते हो, तो कितना पुरुषार्थ करना चाहिए। परन्तु बच्चे घड़ी-घड़ी भूल जाते हैं। शिवबाबा ब्रह्मा द्वारा हमको शिक्षा दे रहे हैं। ब्रह्मा की आत्मा भी उनको याद करती है। एक भगवान को सब भक्त याद करते हैं। परन्तु तमोप्रधान बन गये हैं तो बाप को भूल ठिक्कर-भित्तर सबकी पूजा करते हैं। हम जानते हैं जो कुछ चलता है, ड्रामा शूट होता जाता है। ड्रामा में एक बार जो शूटिंग होती है, समझो बीच में कोई पंछी आदि उड़ता है तो वही शूटिंग में घड़ी-घड़ी दिखाई देगा। पतंग का उड़ना हुआ, शूट हो गया तो फिर रिपीट होता रहेगा। यह भी ड्रामा सेकण्ड-सेकण्ड रिपीट होता रहता है। शूट होता रहता है। बना-बनाया ड्रामा है, तुम एक्टर्स हो। सारे ड्रामा को साक्षी हो देखते हो। एक-एक सेकण्ड ड्रामा अनुसार पास होता रहता है। पत्ता हिला, ड्रामा पास हुआ। ऐसे नहीं, पत्ता-पत्ता भगवान के हुक्म पर चलता है। यह सब ड्रामा की नूँध है, इनको अच्छी रीति समझाना पड़ता है। बाप ही आकर राजयोग सिखाते हैं और ड्रामा की नॉलेज देते हैं। चित्र भी कितने अच्छे बने हुए हैं! संगमयुग पर काँटा भी लगा हुआ है। कलियुग अन्त, सतयुग आदि का संगम है। अभी पुरानी दुनिया में अनेक धर्म हैं। नई दुनिया में फिर यह नहीं होंगे। तुम बच्चे हमेशा ऐसे समझो बाप हमको पढ़ाते हैं। हम गॉडली स्टूडेन्ट हैं। भगवानुवाच – मैं तुमको राजाओं का राजा बनाता हूँ। राजे लोग भी इन लक्ष्मी-नारायण को पूजते हैं। तो उन्हों को पूज्य बनाने वाला भी मैं हूँ। पूज्य जो थे वह अब पुजारी हो गये हैं। तुम बच्चे अब समझ गये हो हम सो पूज्य थे, फिर हम सो पुजारी बने। बाबा तो नहीं बनते हैं। तुम बच्चे अभी फूल हार आदि स्वीकार नहीं कर सकते हो, कायदे अनुसार जिनकी आत्मा और शरीर दोनों पवित्र हैं वही हकदार हैं फूलों के। वहाँ स्वर्ग में है ही खुशबूदार फूल। खुशबू लेने लिए फूल होते हैं। हार पहनने के लिए भी फूल होते हैं। बाप कहते हैं अब तुम बच्चे विष्णु के गले का हार बनते हो, नम्बरवार तुमको तख्त पर बैठना है। जिन्होंने जितना कल्प पहले पुरुषार्थ किया है वह करते हैं, करने लग पड़ेंगे। नम्बरवार तो हैं ही। बुद्धि कहती है फलाना बच्चा बहुत सर्विसएबुल है। जैसे दुकान में होता है – सेठ बनते हैं, भागीदार बनते हैं, मैनेजर बनते हैं। यह भी ऐसे है।

तुम बच्चों को मात-पिता पर जीत पानी है। तुम वन्डर खाते हो मात-पिता के आगे कैसे जा सकते हैं। बाप तो बच्चों को मेहनत कर लायक बनाते हैं, तख्तनशीन बनाने इसलिए कहते हैं हमारे तख्त पर जीत पहनना। एक दो पर जीत पहनते हैं ना। पुरुषार्थ इतना करो जो नर से नारायण बनो। एम ऑबजेक्ट मुख्य है ही एक। फिर कहते हैं किंगडम स्थापन हो रही है, फिर उसमें वैराइटी पद है। माया को जीतने का पूरा पुरुषार्थ करो। बच्चों आदि को भी प्यार से चलाओ। परन्तु ट्रस्टी होकर रहो। भक्तिमार्ग में कहते थे ना – प्रभु, यह सब कुछ आपका दिया हुआ है। आपकी अमानत आपने ले ली फिर रोने की बात ही नहीं। परन्तु यह है ही रोने की दुनिया। मनुष्य कथायें सुनाते हैं, मोह जीत राजा की भी कथा सुनाते हैं। वहाँ कोई दु:ख फील नहीं होता है, एक शरीर छोड़ दूसरा लिया। वहाँ कभी कोई बीमारी होती नहीं। एवर-हेल्दी निरोगी काया रहती है। शादी आदि कैसे होती है, क्या ड्रेस पहनते हैं, वहाँ की रस्म-रिवाज कैसे चलती है – यह सब बच्चों ने साक्षात्कार किया है। वह पार्ट सब बीत गया। उस समय इतना ज्ञान नहीं था। अब दिन-प्रतिदिन तुम बच्चों में ताकत बहुत जोर से आती जाती है। यह भी सब पार्ट ड्रामा में नूँधा हुआ है। वन्डर है – परमात्मा में भी कितना भारी पार्ट है। खुद बैठ समझाते हैं – ब्रह्माण्ड में ऊपर बैठ मैं कितना काम करता हूँ! नीचे तो कल्प में एक ही बार आता हूँ। बहुत निराकार के भी पुजारी होते हैं। परन्तु निराकार परमपिता परमात्मा कैसे आकर पढ़ाते हैं – यह बात गुम कर दी है। गीता में श्रीकृष्ण का नाम डाल दिया है, तो निराकार से प्रीत ही टूट गई है। यह तो परमात्मा ने ही सहज राजयोग सिखाया और दुनिया को बताया। दुनिया बदलती रहती है, युग बदलते रहते हैं। इस ड्रामा के चक्र को अब तुम समझ गये हो। मनुष्य कुछ नहीं जानते। सतयुग के देवी-देवताओं को भी नहीं जानते। सिर्फ देवताओं की निशानियाँ रह गई हैं।

बाप समझाते हैं हमेशा ऐसे समझो – हम शिवबाबा के हैं, शिवबाबा हमको पढ़ाते हैं, शिवबाबा हमको इस ब्रह्मा तन द्वारा शिक्षा दे रहे हैं। शिवबाबा की याद में फिर बहुत मजा आता रहेगा। ऐसा गॉड फादर कौन कहलाये। फादर भी है, टीचर भी है। परन्तु वह फादर गुरू भी हो – ऐसा हो नहीं सकता। टीचर हो सकता है, फादर को गुरू कभी नहीं कहेंगे। इनका (बाबा का) फादर भी टीचर था, पढ़ाते थे। हम भी पढ़ते थे। वह है हद का फादर टीचर। यह है बेहद का फादर टीचर। तुम अपने को गॉडली स्टूडेन्ट समझो तो भी अहो सौभाग्य। गॉड फादर पढ़ाते हैं। कितना क्लीयर है। तो कितना मीठा बाप है! मीठी चीज़ को याद किया जाता है। जैसे आशिक-माशुक का प्यार होता है। उनका विकार के लिए प्यार नहीं होता है। बस, एक दो को देखते रहते हैं। तुम्हारा फिर है आत्माओं का परमात्मा के साथ। आत्मा कहती है – बाबा कितना ज्ञान का, प्रेम का सागर है! इस पतित शरीर में आकर कितना हमको ऊंच बनाते हैं! गायन भी है – मनुष्य से देवता किये करत न लागी वार। सेकण्ड में वैकुण्ठ में चले जाते हैं। सेकण्ड में मनुष्य से देवता बन जाते हैं। यह है एम ऑबजेक्ट, इसके लिए पढ़ाई करनी चाहिए। गुरू नानक ने भी कहा है मूत पलीती कपड़ धोए.. लक्ष्य सोप है ना। बाबा कहते हैं मैं कितना बड़ा धोबी हूँ। तुम्हारे वस्त्र (आत्मा और शरीर) कितना शुद्ध बनाता हूँ! ऐसा धोबी कभी देखा? आत्मा जो बिल्कुल काली हो गई है उनको योगबल से कितना स्वच्छ बनाता हूँ! तो इनको (दादा को) कभी याद नहीं करना है। यह काम सारा शिवबाबा का है, उनको ही याद करो। इन ब्रह्मा से मीठा वह है। आत्माओं को कहते हैं तुमको इन ऑखों से यह ब्रह्मा का रथ देखने में आता है परन्तु तुम याद शिवबाबा को करो। शिवबाबा तुमको इनके द्वारा कौड़ी से हीरे जैसा बना रहे हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) हम गॉडली स्टूडेन्ट हैं, भगवान टीचर बन पढ़ाते हैं – इसी स्मृति में रहना है। घर गृहस्थ में रहते पूरा ट्रस्टी बनना है।

2) अभी हार-फूल स्वीकार नहीं करने हैं। विष्णु के गले का हार बनने के लिए माया को जीतने का पुरुषार्थ करना है।

वरदान:- अलौकिक जीवन की स्मृति द्वारा वृत्ति, स्मृति और दृष्टि का परिवर्तन करने वाले मर-जीवा भव
ब्राह्मण जीवन को अलौकिक जीवन कहते हैं, अलौकिक का अर्थ है इस लोक जैसे नहीं। दृष्टि, स्मृति और वृत्ति सबमें परिवर्तन हो। सदा आत्मा भाई-भाई की वृत्ति वा भाई-बहिन की वृत्ति रहे। हम सब आपस में एक परिवार के हैं – यह वृत्ति रहे और दृष्टि से भी आत्मा को देखो, शरीर को नहीं – तब कहेंगे मरजीवा। ऐसी श्रेष्ठ जीवन मिल गई तो पुरानी जीवन याद आ नहीं सकती।
स्लोगन:- सदा शुद्ध फीलिंग में रहो तो अशुद्ध फीलिंग का फ्लू पास भी नहीं आ सकता।
Font Resize