18 august ki murli

TODAY MURLI 18 AUGUST 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 18 August 2020

18/08/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, in order to make your fortune satopradhan, make a great deal of effort to stay in remembrance. Always remember: I am a soul and I have to claim my full inheritance from the Father.
Question: Why do some children find it difficult to keep a chart of their remembrance?
Answer: Because they do not understand remembrance accurately. When they sit for remembrance their intellects wander outside; they do not become peaceful. They then spoil the atmosphere. If they don’t have remembrance, how can they write their chart? If someone writes lies, he receives a great deal of punishment. Be honest with the true Father.
Song: I have come having awakened my fortune.

Om shanti. Every day, the spiritual Father explains to you children that you must become soul conscious as much as possible. Have the faith that each of you is a soul and remember the Father because you know that you have to come to this unlimited Father to create your unlimited fortune of happiness. Therefore, you definitely have to remember the Father. You cannot make your fortune satopradhan without becoming pure and satopradhan. Remember this very well. There is only one main thing. Write this down and keep it with you. People write things on their arms. You too can write: I am a soul and am claiming my inheritance from the unlimited Father. Maya makes you forget this. If you have written it somewhere you can remember it again and again. People put up a picture of Om or of Krishna etc., so that they can remember it. This is the newest of all remembrances. Only the unlimited Father explains this to you. By understanding this, you don’t only become one hundred times fortunate, but you become multimillion times fortunate. Due to not knowing the Father and not remembering Him, you have become poverty-stricken. It is only the one Father who comes to make your life happy for ever. Although people remember Him, they don’t know Him at all. People abroad have learnt from the people of Bharat to say that God is omnipresent. When Bharat falls, everyone falls. It is Bharat that is responsible for making itself fall and also for making everyone else fall. The Father says: I come here and make Bharat into heaven, the land of truth. They have defamed the One who creates such a heaven a great deal; they have forgotten Him. This is why it is written: When there is extreme irreligiousness, I come. The Father comes and explains the meaning of this too. It is the greatness of the one Father. You now know that the Father definitely comes and that this is why people celebrate the birthday of Shiva. However, they don’t value the birthday of Shiva at all. You understand that it must definitely have been because He came here and then departed that His birthday is celebrated. He is the One who establishes the golden-aged original eternal deity religion. All others know that their religion was established at such-and-such a time by so-and-so. Before them, there was only the deity religion. They don’t know at all where that religion disappeared to. The Father now comes and explains to you. The Father is the highest of all. There is no praise of anyone else. What is the praise of the founders of religions? The Father carries out establishment of the pure world and destruction of the impure world. He enables you to conquer Maya. This is an unlimited aspect. The kingdom of Ravan exists over the whole unlimited world. It is not a question of the limited Lanka. This story of victory and defeat is of Bharat. All the rest are by-plots. It is in Bharat that there are the double-crowned and single-crowned kings. None of the other great emperors that have been and gone had a crown of light; only the deities had this. Deities were anyway the masters of heaven, were they not? Shiv Baba is called the Supreme Father, the Purifier. How can He be given light? Light can only be given to someone who is impure, that is, to someone who has no light. Shiv Baba never becomes one without light. How could you show light on a point? It is not possible. Day by day, Baba continues to explain many deep points which you should keep in your intellects as much as you can. The main thing is the pilgrimage of remembrance. It is in this that there are many obstacles of Maya. Although some write their charts, saying that they have 50% to 60% remembrance, they don’t understand what the pilgrimage of remembrance is. They continue to ask: Can this be called remembrance? It is very difficult. Even when you sit here for 10 to 15 minutes, you should check whether you are sitting in remembrance accurately. There are many who are not able to stay in remembrance. Therefore, they spoil the atmosphere. There are many who create obstacles because they don’t stay in remembrance. Their intellects continue to wander outside the whole day. Therefore, it doesn’t become peaceful when they come here and this is why they don’t write their charts. When lies are written, there is greater punishment. Many children make mistakes and then hide them from the Father; they do not speak the truth. If you call Him the Father, but then don’t tell Him the truth, so much sin would be accumulated. If someone does something really bad, he would be too ashamed to speak the truth about it, and so generally, he would tell lies. It is said: Maya is false, the body is false and the world is false. People have become completely body conscious. It is good to speak the truth. Others would then learn from you too. You have to be truthful here. Together with knowledge, the pilgrimage of remembrance is also essential because it is only through the pilgrimage of remembrance that you yourself and the world are going to benefit. This knowledge is very easy to explain. It is remembrance that requires effort. Everyone knows how a tree emerges from a seed. You have the cycle of 84 births in your intellects; there is also the knowledge of the Seed and the tree. The Father is the Truth, the Living Being and the Ocean of Knowledge. He has the knowledge which He explains to you. This is something totally uncommon. This is the human world tree. No one knows this either. All have been saying, “Neti, neti!” (neither this nor that). If they don’t know the duration, what else would they know? Among you too, there are very few who know this very well. That is why you arrange seminars to get everyone’s opinion. Anyone can give advice. It isn’t only those whose names are mentioned who can give advice. It isn’t that, because your name isn’t mentioned, you can’t give advice; no. If anyone has some advice to give for service, then just put it in writing. The Father says: Whenever you want to give some advice, just write to Baba. “Baba, service can increase a great deal with this method.” Anyone can give advice. Baba will then see the different types of advice that have come. Baba continues to tell you to gather together and think about how to give everyone the message and benefit Bharat. Write and tell Baba these things. Maya has put everyone to sleep. The Father comes when death is in front of you. The Father says: It is now everyone’s stage of retirement. Whether you study or not, everyone definitely has to die. Whether you make preparations or not, the new world is definitely going to be established. All the good children are making their own preparations. The example of Sudama has been remembered because he brought a handful of rice. “Baba, I too should receive a palace.” What could he do if he only had a handful of rice and nothing else? Baba gives the example of Mama. She didn’t even bring a handful of rice, and yet she claimed such a high status! There is no question of money in this. You have to stay in remembrance and make others equal to you. Baba doesn’t ask for any fees etc. Some people understand that they do have some money, and so they want to give it to the yagya to be used in a worthwhile way. “Destruction is going to take place anyway and so everything will go to waste. At least let me use something in a worthwhile way by doing this.” Every human being definitely gives at least some donations or performs charity. Those donations and charity are from sinful souls to sinful souls. Nevertheless, they do receive a temporary reward for that; for instance, someone who builds a university or college etc. If he has a lot of wealth and builds a dharamshala, he receives a good home, but there would still be illness etc. However, if someone builds a hospital, he would have good health, but all his desires would not be fulfilled through that. Here, all your desires are being fulfilled by the unlimited Father. You are becoming pure. Therefore, it is good to use all your wealth to make the world pure, is it not? You receive liberation and liberation-in-life and that too is for half the cycle. Everyone asks how they can receive peace. That can only be received in the land of peace. There is no peacelessness in the golden age because there is only one religion there. In the kingdom of Ravan, there is peacelessness. It is remembered that as is King Rama, so are the subjects of Rama. That is the land of immortality. The word “death” does not exist in the land of immortality. Here, people suddenly die while just sitting doing nothing. This is called the land of death and that is called the land of immortality. There is no death there. They shed their old bodies and become children again. There are no diseases. There is so much benefit there. You are becoming everhealthy by following the directions of Shri Shri. Therefore, many spiritual centres like this should be opened. Even if only a few come, that is no less. At this time no human beings know the duration of the drama. When they ask you: Who taught you this? Tell them: It is the Father who is telling us all of this. There are so many Brahma Kumars and Kumaris. You too are a Brahma Kumar, a child of Shiv Baba. You are also a child of Prajapita Brahma. This one is the great-great-grandfather of humanity. We Brahma Kumars and Kumaris have emerged from him. There are genealogical trees. Your deity clan is one that gives great happiness. You become elevated here and then go and rule the kingdom there. This cannot stay in anyone’s intellect. It has been explained to you children that deities cannot set foot in this tamopradhan world. There can be traces of their non-living images, but not of their living forms. Therefore, the Father explains: Children, stay on the pilgrimage of remembrance. Don’t perform any sinful acts, but create ways of doing service. Children say: Baba, I will become like Lakshmi and Narayan. The Father says: May there be a rose in your mouth (May you truly become like that)! However, you also need to make effort to do this. In order to claim a high status, serve others to make them equal to you. One day you will see that each guide brings 100 to 200 pilgrims with him. As you progress further you will see everything. You can’t be told everything in advance. You will continue to see whatever happens. This is the unlimited drama. You play the main parts with the Father; you are making this old world new. This is a most elevated confluence age. You are now becoming the masters of the land of happiness. There will be no name or trace of sorrow there. The Father is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. He comes and liberates you from sorrow. Some people of Bharat think that, because they have all that wealth and big palaces and electricity, this is heaven for them. All of that is the pomp of Maya. They invent many facilities for happiness. They build huge palaces and buildings but then death suddenly comes. There is no fear of death there. Here, when someone dies suddenly they mourn the death of that person so much. They go and shed tears for that person at his grave. They all have their own customs and systems. There are many opinions. Such things don’t exist in the golden age. There, theyshed a body and take another. You are going to a place where there is so much happiness! You have to make so much effort for that. You have to take directions at every step. Others take directions from their gurus or husbands or they continue to move along according to their own opinions. How useful are devilish directions? They will only push you towards becoming devilish. You are now receiving God’s directions which are the highest on high. This is why it is said: Elevated versions of God. You children are making the whole world into heaven by following shrimat. You are becoming the masters of that heaven. This is why you have to take shrimat at every step. However, if it is not in someone’s fortune, he doesn’t follow His directions. Baba has said that if you have any advice to give, then send it to Baba. Baba knows who are worthy to give advice. Many new children continue to emerge. Baba knows which children are good. Shopkeepers should also give advice on how to create methods to give the Father’s introduction. Continue to remind everyone in the shop. When it was the golden age in Bharat, there was just one religion. There is nothing to become upset about in this. The Father of all is One. The Father says: Constantly remember Me alone and will be absolved of your sins and you will become the masters of heaven. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost, now-found, children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Follow shrimat and serve to make the whole world into heaven. Make many others equal to you. Protect yourself from devilish directions.
  2. Make the soul satopradhan by making effort to have remembrance. Use the handful of rice that you have in a worthwhile way like Sudama did and have all your desires fulfilled.
Blessing: May you constantly be victorious by experiencing tests and problems as entertainment instead of wilting under them.
According to the drama, in this effort-making life, problems and tests are definitely going to come. To keep your aim of moving forward as soon as you take birth means to invoke tests and problems. Since you have to follow the path, how would it be possible for there to be no scenes along the path? However, instead of going through those scenes, if you engage yourself in making corrections, the connection of remembrance of the Father will then be loose and, instead of being entertained, you would make your mind wilt. Therefore, continue to sing the song, “Wah scenes! Wah!”, and move forward, that is, be blessed with the blessing of being constantly victorious.
Slogan: To move along with the codes of conduct means to become the highest being following the highest codes of conduct.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 18 AUGUST 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 18 August 2020

Murli Pdf for Print : – 

18-08-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – अपनी सतोप्रधान तकदीर बनाने के लिए याद में रहने का खूब पुरूषार्थ करो, सदा याद रहे मैं आत्मा हूँ, बाप से पूरा वर्सा लेना है”
प्रश्नः- बच्चों को याद का चार्ट रखना मुश्किल क्यों लगता है?
उत्तर:- क्योंकि कई बच्चे याद को यथार्थ समझते ही नहीं हैं। बैठते हैं याद में और बुद्धि बाहर भटकती है। शान्त नहीं होती। वह फिर वायुमण्डल को खराब करते हैं। याद करते ही नहीं तो चार्ट फिर कैसे लिखें। अगर कोई झूठ लिखते हैं तो बहुत दण्ड पड़ जाता है। सच्चे बाप को सच बताना पड़े।
गीत:- तकदीर जगाकर आई हूँ……..

ओम् शान्ति। रूहानी बच्चों को फिर भी रूहानी बाप रोज़-रोज़ समझाते हैं कि जितना हो सके देही-अभिमानी बनो। अपने को आत्मा निश्चय करो और बाप को याद करो क्योंकि तुम जानते हो हम उस बेहद के बाप से बेहद सुख की तकदीर बनाने आये हैं। तो जरूर बाप को याद करना पड़े। पवित्र सतोप्रधान बनने बिगर सतोप्रधान तकदीर बना नहीं सकते। यह तो अच्छी रीति याद करो। मूल बात है ही एक। यह तो अपने पास लिख दो। बांह पर नाम लिखते हैं ना। तुम भी लिख दो – हम आत्मा हैं, बेहद के बाप से हम वर्सा ले रहे हैं क्योंकि माया भुला देती है इसलिए लिखा हुआ होगा तो घड़ी-घड़ी याद रहेगी। मनुष्य ओम् का वा कृष्ण आदि का चित्र भी लगाते हैं याद के लिए। यह तो है नये ते नई याद। यह सिर्फ बेहद का बाप ही समझाते हैं। इस समझने से तुम सौभाग्यशाली तो क्या पदम भाग्यशाली बनते हो। बाप को न जानने कारण, याद न करने कारण कंगाल बन गये हैं। एक ही बाप है जो सदैव के लिए जीवन को सुखी बनाने आये हैं। भल याद भी करते हैं परन्तु जानते बिल्कुल नहीं हैं। विलायत वाले भी सर्वव्यापी कहना भारत-वासियों से सीखे हैं। भारत गिरा है, तो सब गिरे हैं। भारत ही रेसपान्सिबुल है अपने को गिराने और सबको गिराने। बाप कहते हैं मैं भी यहाँ ही आकर भारत को स्वर्ग सचखण्ड बनाता हूँ। ऐसा स्वर्ग बनाने वाले की कितनी ग्लानि कर दी है। भूल गये हैं इसलिए लिखा हुआ है यदा यदाहि….. इनका भी अर्थ बाप ही आकर समझाते हैं। बलिहारी एक बाप की है। अभी तुम जानते हो बाप आते हैं जरूर, शिवजयन्ती मनाते हैं। परन्तु शिवजयन्ती का कदर बिल्कुल नहीं है। अभी तुम बच्चे समझते हो जरूर होकर गये हैं, जिसकी जयन्ती मनाते हैं। सतयुगी आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना वही करते हैं। और सब जानते हैं कि हमारा धर्म फलाने ने फलाने समय स्थापन किया। उनके पहले है ही देवी-देवता धर्म। उनको बिल्कुल ही नहीं जानते कि यह धर्म कहाँ गुम हो गया। अभी बाप आकर समझाते हैं – बाप ही सबसे ऊंच है, और किसकी महिमा है नहीं। धर्म स्थापक की महिमा क्या होगी। बाप ही पावन दुनिया की स्थापना और पतित दुनिया का विनाश कराते हैं और तुमको माया पर जीत पहनाते हैं। यह बेहद की बात है। रावण का राज्य सारी बेहद की दुनिया पर है। हद के लंका आदि की बात नहीं। यह हार-जीत की कहानी भी सारे भारत की ही है। बाकी तो बाईप्लाट हैं। भारत में ही डबल सिरताज और सिंगल ताज राजायें बनते हैं और जो भी बड़े-बड़े बादशाह होकर गये हैं, कोई पर भी लाइट का ताज नहीं होता है सिवाए देवी-देवताओं के। देवतायें तो फिर भी स्वर्ग के मालिक थे ना। अब शिवबाबा को कहा ही जाता है परमपिता, पतित-पावन। इनको लाइट कहाँ देंगे। लाइट तब दें जब बिगर लाइट वाला पतित भी हो। वह कभी बिगर लाइट वाला होता ही नहीं। बिन्दी पर लाइट दे कैसे सकेंगे। हो न सके। दिन-प्रतिदिन तुमको बहुत गुह्य-गुह्य बातें समझाते रहते हैं, जो जितना बुद्धि में बिठा सके। मुख्य है ही याद की यात्रा। इसमें माया के विघ्न बहुत पड़ते हैं। भल कोई याद के चार्ट में 50-60 परसेन्ट भी लिखते हैं परन्तु समझते नहीं हैं कि याद की यात्रा किसको कहा जाता है। पूछते रहते हैं – इस बात को याद कहें? बड़ा मुश्किल है। तुम यहाँ 10-15 मिनट बैठते हो, उनमें भी जांच करो – याद में अच्छी रीति रहते हैं? बहुत हैं जो याद में रह नहीं सकते फिर वह वायुमण्डल को खराब कर देते हैं। बहुत हैं जो याद में न रहने से विघ्न डालते हैं। सारा दिन बुद्धि बाहर भटकती रहती है। सो यहाँ थोड़ेही शान्त होगी, इसलिए याद का चार्ट भी रखते नहीं। झूठा लिखने से तो और ही दण्ड पड़े। बहुत बच्चे भूलें करते हैं, छिपाते हैं। सच बताते नहीं। बाप कहे और सच न बताये तो कितना दोष हो जाता। कितना भी बड़ा गन्दा काम किया होगा तो भी सच बताने में लज्जा आयेगी। अक्सर करके सब झूठ बतायेंगे। झूठी माया, झूठी काया…… है ना। एकदम देह-अभिमान में आ जाते हैं। सच सुनाना तो अच्छा ही है और भी सीखेंगे। यहाँ सच बताना है। नॉलेज के साथ-साथ याद की यात्रा भी जरूरी है क्योंकि याद की यात्रा से ही अपना और विश्व का कल्याण होना है। नॉलेज समझाने के लिए बहुत सहज है। याद में ही मेहनत है। बाकी बीज से झाड़ कैसे निकलता है, वह तो सबको मालूम रहता है। बुद्धि में 84 का चक्र है, बीज और झाड़ की नॉलेज होगी ना। बाप तो सत्य है, चैतन्य है, ज्ञान का सागर है। उनमें नॉलेज है समझाने के लिए। यह है बिल्कुल अनकॉमन बात। यह मनुष्य सृष्टि का झाड़ है। यह भी कोई नहीं जानते। सब नेती-नेती करते गये। ड्युरेशन को ही नहीं जानते तो बाकी क्या जानेंगे। तुम्हारे में भी बहुत थोड़े हैं जो अच्छी रीति जानते हैं, इसलिए सेमीनार भी बुलाते हैं। अपनी-अपनी राय दो। राय तो कोई भी दे सकते हैं। ऐसे नहीं कि जिनके नाम हैं उनको ही देनी है। हमारा नाम नहीं है, हम कैसे देवें। नहीं, कोई को भी सर्विस अर्थ कोई राय हो, एडवाइज़ हो लिख सकते हो। बाप कहते हैं कोई भी राय आये तो लिखना चाहिए। बाबा इस युक्ति से सर्विस बहुत बढ़ सकती है। कोई भी राय दे सकते हैं। देखेंगे किस-किस प्रकार की राय दी है। बाबा तो कहते रहते हैं – किस युक्ति से हम भारत का कल्याण करें, सबको पैगाम देवें। आपस में विचार निकालो, लिखकर भेजो। माया ने सबको सुला दिया है। बाप आते ही हैं जब मौत सामने होता है। अब बाप कहते हैं सबकी वानप्रस्थ अवस्था है, पढ़ो न पढ़ो, मरना जरूर है। तैयारी करो न करो, नई दुनिया जरूर स्थापन होनी है। अच्छे-अच्छे बच्चे जो हैं वह अपनी तैयारी कर रहे हैं। सुदामा का भी मिसाल गाया हुआ है – चावल मुट्ठी ले आया। बाबा हमको भी महल मिलने चाहिए। है ही उनके पास चावल मुट्ठी तो क्या करेंगे। बाबा ने मम्मा का मिसाल बताया है – चावल मुट्ठी भी नहीं ले आई। फिर कितना ऊंच पद पा लिया, इसमें पैसे की बात नहीं है। याद में रहना है और आप समान बनाना है। बाबा की तो कोई फी आदि नहीं। समझते हैं हमारे पास पैसे पड़े हैं तो क्यों न यज्ञ में स्वाहा कर दें। विनाश तो होना ही है। सब व्यर्थ हो जायेगा। इससे कुछ तो सफल करें। हर एक मनुष्य कुछ न कुछ दान-पुण्य आदि जरूर करते हैं। वह है पाप आत्माओं का पाप आत्माओं को दान-पुण्य। फिर भी उसका अल्पकाल के लिए फल मिल जाता है। समझो कोई युनिवर्सिटी, कॉलेज आदि बनाते हैं, पैसे जास्ती हैं, धर्मशाला आदि बना देते हैं तो उनको मकान आदि अच्छा मिल जायेगा। परन्तु फिर भी बीमारी आदि तो होगी ना। समझो किसने हॉस्पिटल आदि बनाई होगी तो करके तन्दुरूस्ती अच्छी रहेगी। परन्तु उनसे सब कामनायें तो सिद्ध नहीं होती हैं। यहाँ तो बेहद के बाप द्वारा तुम्हारी सब कामनायें पूरी हो जाती हैं।

तुम बनते हो पावन तो सब पैसे विश्व को पावन बनाने में लगाना अच्छा है ना। मुक्ति-जीवनमुक्ति देते हो सो भी आधाकल्प के लिए। सब कहते हैं हमको शान्ति कैसे मिले। वह तो शान्तिधाम में मिलती है और सतयुग में एक धर्म होने कारण वहाँ अशान्ति होती नहीं। अशान्ति होती है रावण राज्य में। गायन भी है ना – राम राजा राम प्रजा…… वह है अमरलोक। वहाँ अमरलोक में मरने का अक्षर होता नहीं। यहाँ तो बैठे-बैठे अचानक मर जाते हैं, इसको मृत्युलोक उसको अमरलोक कहा जाता है। वहाँ मरना होता नहीं। पुराना एक शरीर छोड़ फिर बालक बन जाते हैं। रोग होता नहीं। कितना फायदा होता है। श्री श्री की मत पर तुम एवरहेल्दी बनते हो। तो ऐसे रूहानी सेन्टर्स कितने खुलने चाहिए। थोड़े भी आते हैं वह कम है क्या। इस समय कोई भी मनुष्य ड्रामा के ड्युरेशन को नहीं जानते हैं। पूछेंगे तुमको फिर यह किसने सिखलाया है। अरे, हमको बताने वाला बाप है। इतने ढेर बी.के. हैं। तुम भी बी.के. हो। शिवबाबा के बच्चे हो। प्रजापिता ब्रह्मा के भी बच्चे हो। यह है ह्युमैनिटी का ग्रेट-ग्रेट ग्रैन्ड फादर। इनसे हम बी.के. निकले हैं। बिरादरियाँ होती हैं ना। तुम्हारे देवी-देवताओं का कुल बहुत सुख देने वाला है। यहाँ तुम उत्तम बनते हो फिर वहाँ राज्य करते हो। यह किसको बुद्धि में रह न सके। यह भी बच्चों को समझाया है देवताओं के पैर इस तमोप्रधान दुनिया में पड़ न सके। जड़ चित्र का परछाया पड़ सकता है, चैतन्य का नहीं पड़ सकता। तो बाप समझाते हैं – बच्चे, एक तो याद की यात्रा में रहो, कोई भी विकर्म न करो और सर्विस की युक्तियाँ निकालो। बच्चे कहते हैं – बाबा, हम तो लक्ष्मी-नारायण जैसा बनेंगे। बाबा कहते तुम्हारे मुख में गुलाब लेकिन इसके लिए मेहनत भी करनी है। ऊंच पद पाना है तो आप समान बनाने की सेवा करो। तुम एक दिन देखेंगे – एक-एक पण्डा अपने साथ 100-200 यात्री भी ले आयेंगे। आगे चल देखते रहेंगे। पहले से थोड़ेही कुछ कह सकते हैं। जो होता रहेगा सो देखते रहेंगे।

यह बेहद का ड्रामा है। तुम्हारा है सबसे मुख्य पार्ट बाप के साथ, जो तुम पुरानी दुनिया को नई बनाते हो। यह है पुरूषोत्तम संगम युग। अब तुम सुखधाम के मालिक बनते हो। वहाँ दु:ख का नाम-निशान नहीं होगा। बाप है ही दु:ख हर्ता, सुख कर्ता। दु:ख से आकर लिबरेट करते हैं। भारतवासी फिर समझते हैं इतना धन है, बड़े-बड़े महल है, बिजलियाँ हैं, बस यही स्वर्ग है। यह सब है माया का पाम्प। सुख के लिए साधन बहुत करते हैं। बड़े-बड़े महल मकान बनाते हैं फिर मौत कैसे अचानक हो जाता है, वहाँ मरने का डर नहीं। यहाँ तो अचानक मर जाते हैं फिर कितना शोक करते हैं। फिर समाधि पर जाकर आंसू बहाते हैं। हर एक की अपनी-अपनी रसमरिवाज है। अनेक मत हैं। सतयुग में ऐसी बात होती नहीं। वहाँ तो एक शरीर छोड़ दूसरा ले लेते हैं। तो तुम कितना सुख में जाते हो। उसके लिए कितना पुरूषार्थ करना चाहिए। कदम-कदम पर मत लेनी चाहिए। गुरू की वा पति की मत लेते हैं वा तो अपनी मत से चलना होता है। आसुरी मत क्या काम देंगी। आसुरी तरफ ही ढकेलेगी। अब तुमको मिलती है ईश्वरीय मत, ऊंच ते ऊंच इसलिए गाया हुआ भी है – श्रीमत भगवानुवाच। तुम बच्चे श्रीमत से सारे विश्व को हेविन बनाते हो। उस हेविन के तुम मालिक बनते हो इसलिए तुम्हें हर कदम पर श्रीमत लेनी है परन्तु किसकी तकदीर में नहीं है तो फिर मत पर चलते नहीं हैं। बाबा ने समझाया है किसको भी अपना कुछ अक्ल हो, राय हो तो बाबा को भेज देवें। बाबा जानते हैं कौन-कौन राय देने लायक हैं। नये-नये बच्चे निकलते रहते हैं। बाबा तो जानते हैं ना कौन से अच्छे-अच्छे बच्चे हैं। दुकानदारों को भी राय निकालनी चाहिए – ऐसे यत्न करें जो बाप का परिचय मिले। दुकान में भी सबको याद कराते रहें। भारत में जब सतयुग था तो एक धर्म था। इसमें नाराज़ होने की तो बात ही नहीं। सबका एक बाप है। बाप कहते हैं मामेकम् याद करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश हो जाएं। स्वर्ग के मालिक बन जायेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) श्रीमत पर चलकर सारे विश्व को स्वर्ग बनाने की सेवा करनी है, बहुतों को आप समान बनाना है। आसुरी मत से अपनी सम्भाल करनी है।

2) याद की मेहनत से आत्मा को सतोप्रधान बनाना है। सुदामा मिसल जो भी चावल मुट्ठी हैं वह सब सफल कर अपनी सर्व कामनायें सिद्ध करनी है।

वरदान:- परीक्षाओं और समस्याओं में मुरझाने के बजाए मनोरंजन का अनुभव करने वाले सदा विजयी भव
इस पुरूषार्थी जीवन में ड्रामा अनुसार समस्यायें व परिस्थितियां तो आनी ही हैं। जन्म लेते ही आगे बढ़ने का लक्ष्य रखना अर्थात् परीक्षाओं और समस्याओं का आह्वान करना। जब रास्ता तय करना है तो रास्ते के नजारे न हों यह हो कैसे सकता। लेकिन उन नजारों को पार करने के बजाए यदि करेक्शन करने लग जाते हो तो बाप की याद का कनेक्शन लूज हो जाता है और मनोरंजन के बजाए मन को मुरझा देते हो। इसलिए वाह नजारा वाह के गीत गाते आगे बढ़ो अर्थात् सदा विजयी भव के वरदानी बनो।
स्लोगन:- मर्यादा के अन्दर चलना माना मर्यादा पुरूषोत्तम बनना।

TODAY MURLI 18 AUGUST 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 18 August 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 17 August 2019:- Click Here

18/08/19
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
16/01/85

The attainment of the inheritance and the blessings from God in the age of fortune.

Today, the Father, the Seed of the world tree, is looking at His children who are the foundation of the tree, the foundation from whom the whole tree grows. He is looking at the special souls who are embodiments of the essence and who bring about growth, that is, He is looking at the souls who are images of support for the tree. He is looking at the special souls who have imbibed all the powers they have received directly from the Seed. Out of all the souls of the world, only a few souls have received this special part. There are so few souls who have received the part of elevated attainment through their relationship with the Seed.

Today, BapDada was looking at the fortune of such elevated, fortunate children. You children simply remember two words: Bhagwan (God) and bhagya (fortune). Everyone receives fortune according to their karma. Even you souls have had to come into the account of karma and fortune from the copper age onwards; but, in the present age of fortune, God gives you fortune. He gives you children the method for drawing an elevated line of fortune with the pen of elevated actions. With this pen, you can draw as elevated and clear a line of fortune for birth after birth as you want. No other time has this blessing. It is only at this time that you have the blessing to attain whatever you want and however much you want. Why? God is giving you children the treasures of fortune with a generous heart and without you having to make any effort. It is an open treasure store; there are no locks or keys. It is such an overflowing, infinite treasure store that you can take as many treasures as you want. It is an unlimited, overflowing treasure store. Every day, BapDada reminds you children: Take as much as you want! Don’t take according to your capacity, but take with a big heart, take from the open treasure store. What would the Father say, if any of you were to take according to your capacity? The Father also remains the detached Observer and smiles as He watches: Children are so innocent that they are happy with just a little. Why? Because, for 63 births, you have had the sanskars of devotees who are happy with just a little. Instead of taking the full attainment, you consider a little to be a lot and are satisfied with that.

You forget that this is the time to take all attainments from the eternal Father. Nevertheless, BapDada reminds you children: Be powerful. It is still not too late. You have come late, but it is not yet the time for “too late”. This is why, even now, it is the time to take from both forms of the Father: the inheritance from the Father and blessings from the Satguru. Therefore, create your elevated fortune easily in the form of blessings and the inheritance. You won’t then have to think: The Bestower of Fortune distributed fortune, but I only took this much. The children of the Almighty Authority Father cannot be “according to capacity”. You now have the blessing that you can take whatever you want from the Father’s treasure store as your right. Even if you are weak, with the Father’s help you can make your present and future elevated, because when a child keeps courage, the Father gives help. There is very little time left for you to take the Father’s co-operation from the Father’s open treasure store of fortune.

At this time, because of His love for you, the Father is your Companion at every moment and in every situation, but after a little while, instead of being the Companion, His part of watching everything as the detached Observer will begin. Whether you become full of all powers or you become full according to your capacity, He will observe both these stages as the detached Observer. Therefore, at this elevated time, claim the attainment of the fortune of the inheritance, the blessings, the co-operation and the company that you receive from BapDada. Never become careless about your attainments: There are still so many years left! Don’t confuse the time period of world transformation with the time period of attainment. Don’t be left behind by just thinking such thoughts of carelessness. In your Brahmin life, constantly remember the words for all attainments – and attainment over a long period of time: “If not now, then never”. This is why you were told to remember just two words: Bhagwan and bhagya. You will then always remain multimillion times fortunate. Bap and Dada were having a heart-to-heart conversation between themselves: Why are children compelled by their old habits? The Father makes you strong (majboot) and yet you children then become compelled (majboor). He gives you legs of courage and wings and also make you fly along with Him and yet why do you go up and down, up and down? You continue to be confused even in the age of pleasure. This is known as being compelled by your old habits. Are you strong or are you compelled? The Father makes you double-light and gives you His co-operation by lifting all the burdens Himself. However, because you have the habit of picking up burdens, you take that burden. Do you know what song you then sing? You sing the song of “K”, “kya? (What?), kyu ? (Why?) and kese? (How?). You also sing another song: Ge, ge (leave it to some time in the future!) Those are songs of devotion. The song of someone who has a right is, “I have attained!” So, which song do you sing? Check what song you were singing throughout the day. BapDada loves you children and, because of this love, He always thinks: Let every child always be full, powerful and multimillion times fortunate. Do you understand? Achcha.

To those who, according to the time, always have a right to the inheritance and to blessings, to those who create their full fortune from the open treasure store of fortune, to those who transform from ‘according to capacity’ (yatha-shakti) to being full of all powers (sarva shakti), to those who draw the full line of fortune with the pen of elevated actions, to the elevated souls who are embodiments of all attainments and who know the importance of this time, BapDada’s love, remembrance and namaste to make you full.

BapDada meeting groups:

1) Do you always remember your alokik birth, alokik life, alokik Father and alokik inheritance? Just as the Father is alokik, so your inheritance is also alokik. A physical father gives you a limited inheritance and the alokik Father gives you the unlimited inheritance. So, let there always be the awareness of the alokik Father and the inheritance. You don’t sometimes go into the memories of your lokik life, do you? You have died alive, have you not? Just as those whose bodies die physically never remember their previous birth, in the same way, those with alokik lives and alokik births can never remember their lokik births. Now, even the age has changed. The world is iron-aged whereas you are confluence aged; everything has changed. You don’t sometimes go into the iron age, do you? This too is a border. As soon as you cross the border, you end up in the enemy’s hands. So, you don’t cross the border, do you? Always have the awareness that you are a confluence-aged elevated soul with an alokik life. What will you now do? Become the biggest of all businessmen. Become such a businessmanthat in one step you accumulate an income of multimillions. You will always belong to the unlimited Father. Therefore, continue to move forward in unlimited service with unlimited zeal and enthusiasm.

2) Do you constantly experience a double-light stage? The sign of a double-light stage is to be constantly in the flying stage. Those who are in the flying stage can never be attracted by Maya. Those who are in the flying stage are constantly victorious. The intellects of those who are in the flying stage constantly have faith and remain carefree. What does it mean to be in the flying stage? The flying stage means the highest-on-high stage. When you fly, you go up above, do you not? Consider yourselves to be the highest souls who remain stable in the highest-on-high stage and continue to move forward. To be in the flying stage means the feet of the intellect are not on the ground. Above the ground means beyond any awareness of the body. Those who remain above the ground of the awareness of the body are constant angels who have no relationship with the ground. You now know about the awareness of the body and you also know the soul-conscious stage. When you know the difference between the two, you cannot become body conscious. You only do what you like doing, do you not? Therefore, always maintain the awareness that you are an angel. By having the awareness of an angel, you will constantly continue to fly. When you go into the flying stage, the ground down below cannot attract you. Just as when you go into space, there is no pull of gravity from the Earth, in the same way, when you have become an angel, the ‘Earth’ of the body cannot attract you.

3) Do you constantly experience the stage of being co-operative karma yogis, natural yogis and constant yogis? When something is easy, it becomes constant. If it is not easy, it is not constant. So, are you constant yogis or is there a difference? Yogi means to remain constantly absorbed in remembrance. When you have all relationships with God, then because of all relationships, there will be natural remembrance, and when there are all relationships, there will be the remembrance of One. Since there is just the One there would be constant remembrance. So, belong to the one Father and none other in all relationships. To belong to the one Father in all relationships is the easy way to become a constant yogi. When you don’t have any other relationship, where would your remembrance go? Always have the awareness that you are easy yogi souls by having all relationships with the Father. By being constantly equal to the Father and having a balance of love and power at every step, success automatically comes in front of you. Success is your birthright. You have to work in order to keep busy, but one is hard work and the other is just like a game. Since you have received the blessing of powers from the Father, then, where there is power, everything is easy. Let there just be a balance between the family and the Father and you will automatically receive blessings. Where there are blessings, there is the flying stage. Even against your conscious wish, there is easy success.

4) Do you always have the awareness of the Father and the inheritance? The awareness of who your Father is and what inheritance you have received automatically makes you powerful. You have received such an imperishable inheritance that it can create in one birth a reward for many births. Have you ever received such an inheritance before? You receive this now, but not in the rest of the cycle. Therefore, constantly continue to move forward with the constant awareness of the Father and your inheritance. By remembering your inheritance, there will be constant happiness and by remembering the Father, you will remain constantly powerful. A powerful soul will always remain a conqueror of Maya and where there is happiness, there is life. What is life when there is no happiness? In that situation, although you have a life, it is like not having a life. Whilst living, it is like being dead. The more you remember your inheritance, the more happiness you will have. Do you constantly have happiness? Only a handful out of multimillions receive such an inheritance and you have received it. Never lose this awareness. The more remembrance there is, so accordingly there is attainment. There is constant remembrance and the constant happiness of attainment.

BapDada meeting kumars: A kumar life is a powerful life. So Brahma Kumars means spiritually powerful. Not physically powerful, but spiritually powerful. You can do whatever you want in kumar life. So, all of you kumars have created your present and future in your kumar life. What have you made it? You have made it spiritual. When you became Brahma Kumars with Godly lives, you became those with such elevated lives. Your lives became so elevated that you stepped away from sorrow, deception and wandering around for all time. Otherwise, kumars with physical strength continue to wander around. They just fight, quarrel, cause sorrow and deceive others. So you have been saved from so many things. Just as you have been saved, so you also have the enthusiasm to save others. You are those who constantly save your equals. Also give to others the powers you have received. You have received limitless powers, have you not? So, make everyone powerful. Serve whilst considering yourself to be an instrument. Not: I am a server. Baba is making me do it and I am just an instrument. You are not those who have the consciousness of “I”. Those who don’t have any consciousness of “I” are true servers.

BapDada meeting couples:Are you constantly souls who have a right to self-sovereignty? To rule over your self means constantly to have a right. Those who have a right can never be dependent. If you are dependent, you cannot have all rights. When it is night, it is not day and when it is day, it is not night. Similarly such souls who have all rights cannot be dependent on any of the physical senses, people or material comforts. Do you have such rights? When you have become master almighty authorities, what does that make you? Those with all rights. So, with the powerful awareness that you are souls who have a right to self-sovereignty, you will easily continue to be victorious. Let there not be the slightest thought of defeat even in your dreams. This is called being constantly victorious. Has Maya run away or are you chasing her away? Have you chased her away to such an extent that she doesn’t come back? When you don’t want someone to come back, you leave him somewhere far away. So, have you chased her that far away? Achcha.

Blessing: May you make the one Father your world in Brahmin life and become a natural and easy yogi.
All the children in Brahmin life have promised to belong to the one Father and none other. When the Father is your world, when there is no one else, you will then constantly have a natural and easy yogi stage. If there is anyone else, you would have to make effort. Let the intellect not wander anywhere, but let it remain there. If the one Father is your everything, your intellect cannot go anywhere else. In this way, you easily become an easy yogi and one who easily has a right to self-sovereignty. There is a constant and stable sparkle of spirituality on your face.
Slogan: To become avyakt and bodiless, like the Father, is the practical proof of avyakt sustenance.

 

*** Om Shanti ***

Special notice:

Today is the third Sunday, International Yoga Day. Let all brothers and sisters, together with your families, from 6.30 – 7.30 pm, collectively do the service of giving the sakaash of peace and power to nature and all souls.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 18 AUGUST 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 18 August 2019

To Read Murli 17 August 2019:- Click Here
18-08-19
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 16-01-85 मधुबन

भाग्यवान युग में भगवान द्वारा वर्से और वरदानों की प्राप्ति

आज सृष्टि वृक्ष के बीजरूप बाप अपने वृक्ष के फाउन्डेशन बच्चों को देख रहे हैं। जिस फाउन्डेशन द्वारा सारे वृक्ष का विस्तार होता है। विस्तार करने वाले सार स्वरूप विशेष आत्माओं को देख रहे हैं अर्थात् वृक्ष के आधार मूर्त आत्माओं को देख रहे हैं। डायरेक्ट बीजरूप द्वारा प्राप्त की हुई सर्व शक्तियों को धारण करने वाली विशेष आत्माओं को देख रहे हैं। सारे विश्व की सर्व आत्माओं में से सिर्फ थोड़ी-सी आत्माओं को यह विशेष पार्ट मिला हुआ है। कितनी थोड़ी आत्मायें हैं जिन्हों को बीज के साथ सम्बन्ध द्वारा श्रेष्ठ प्राप्ति का पार्ट मिला हुआ है।

आज बापदादा ऐसे श्रेष्ठ भाग्यवान बच्चों के भाग्य को देख रहे हैं। सिर्फ बच्चों को यह दो शब्द याद रहें “भगवान और भाग्य’। भाग्य अपने कर्मों के हिसाब से सभी को मिलता है। द्वापर से अब तक आप आत्माओं को भी कर्म और भाग्य इस हिसाब किताब में आना पड़ता है लेकिन वर्तमान भाग्यवान युग में भगवान भाग्य देता है। भाग्य के श्रेष्ठ लकीर खींचने की विधि “श्रेष्ठ कर्म रूपी कलम” आप बच्चों को दे देते हैं, जिससे जितनी श्रेष्ठ, स्पष्ट, जन्म-जन्मान्तर के भाग्य की लकीर खींचने चाहो उतनी खींच सकते हो। और कोई समय को यह वरदान नहीं है। इसी समय को यह वरदान है जो चाहो जितना चाहो उतना पा सकते हो। क्यों? भगवान भाग्य का भण्डारा बच्चों के लिए फराखदिली से, बिना मेहनत के दे रहा है। खुला भण्डार है, ताला चाबी नहीं है। और इतना भरपूर, अखुट है जो जितने चाहें, जितना चाहें ले सकते हैं। बेहद का भरपूर भण्डारा है। बापदादा सभी बच्चों को रोज़ यही स्मृति दिलाते रहते हैं कि जितना लेने चाहो उतना ले लो। यथाशक्ति नहीं, लो बड़ी दिल से लो। लेकिन खुले भण्डार से, भरपूर भण्डार से लो। अगर कोई यथाशक्ति लेते हैं तो बाप क्या कहेंगे? बाप भी साक्षी हो देख-देख हर्षाते रहते कि कैसे भोले-भाले बच्चे थोड़े में ही खुश हो जाते हैं। क्यों? 63 जन्म भक्तपन के संस्कार थोड़े में ही खुश होने के कारण अभी भी सम्पन्न प्राप्ति के बजाए थोड़े को ही बहुत समझ उसी में राज़ी हो जाते हैं।

इस समय अविनाशी बाप द्वारा सर्व प्राप्ति का समय है, यह भूल जाते हैं। बापदादा फिर भी बच्चों को स्मृति दिलाते, समर्थ बनो। अब भी टूलेट नहीं हुआ है। लेट आये हो लेकिन टूलेट का समय अभी नहीं है इसलिए अभी भी दोनों रूप से बाप रूप से वर्सा, सतगुरू के रूप से वरदान मिलने का समय है। तो वरदान और वर्से के रूप में सहज श्रेष्ठ भाग्य बना लो। फिर यह नहीं सोचना पड़े कि भाग्य विधाता ने भाग्य बाँटा लेकिन मैंने इतना ही लिया। सर्व शक्तिवान बाप के बच्चे यथाशक्ति नहीं हो सकता। अभी वरदान है जो चाहो वह बाप के खजाने से अधिकार के रूप से ले सकते हो। कमजोर हो तो भी बाप की मदद से, हिम्मते बच्चे मददे बाप, वर्तमान और भविष्य श्रेष्ठ बना सकते हो। बाकी थोड़ा समय है, बाप के सहयोग और भाग्य के खुले भण्डार मिलने का।

अभी स्नेह के कारण बाप के रूप में हर समय, हर परिस्थिति में साथी है लेकिन इस थोड़े से समय के बाद साथी के बजाए साक्षी हो देखने का पार्ट चलेगा। चाहे सर्वशक्ति सम्पन्न बनो, चाहे यथाशक्ति बनो – दोनों को साक्षी हो देखेंगे इसलिए इस श्रेष्ठ समय में बापदादा द्वारा वर्सा, वरदान सहयोग, साथ इस भाग्य की जो प्राप्ति हो रही है उसको प्राप्त कर लो। प्राप्ति में कभी भी अलबेले नहीं बनना। अभी इतने वर्ष पड़े हैं, सृष्टि परिवर्तन के समय और प्राप्ति के समय दोनों को मिलाओ मत। इस अलबेले पन के संकल्प से सोचते नहीं रह जाना। सदा ब्राह्मण जीवन में सर्व प्राप्ति का, बहुतकाल की प्राप्ति का यही बोल याद रखो ‘अब नहीं तो कब नहीं’ इसलिए कहा कि सिर्फ दो शब्द भी याद रखो “भगवान और भाग्य”। तो सदा पदमापदम भाग्यवान रहेंगे। बापदादा आपस में भी रूहरूहान करते हैं कि ऐसे पुरानी आदत से मजबूर क्यों हो जाते हैं। बाप मजबूत बनाते, फिर भी बच्चे मजबूर हो जाते हैं। हिम्मत की टाँगे भी देते हैं, पंख भी देते हैं, साथ-साथ भी उड़ाते फिर भी नीचे ऊपर नीचे ऊपर क्यों होते हैं। मौजों के युग में भी मूंझते रहते हैं, इसको कहते हैं पुरानी आदत से मजबूर। मजबूत हो या मजबूर हो? बाप डबल लाइट बनाते, सब बोझ स्वयं उठाने के लिए साथ देते फिर भी बोझ उठाने की आदत, बोझ उठा लेते हैं। फिर कौन सा गीत गाते हैं, जानते हो? क्या, क्यों, कैसे यह “के के” का गीत गाते हैं। दूसरा भी गीत गाते हैं “गे गे” का। यह तो भक्ति के गीत हैं। अधिकारीपन का गीत है “पा लिया”। तो कौन-सा गीत गाते हो? सारे दिन में चेक करो कि आज का गीत कौन सा था? बापदादा का बच्चों से स्नेह है इसलिए स्नेह के कारण सदा यही सोचते कि हर बच्चा सदा सम्पन्न हो, समर्थ हो। सदा पदमापदम भाग्यवान हो। समझा। अच्छा!

सदा समय प्रमाण वर्से और वरदान के अधिकारी, सदा भाग्य के खुले भण्डार से सम्पूर्ण भाग्य बनाने वाले, यथाशक्ति को सर्व शक्ति सम्पन्न में परिवर्तन करने वाले, श्रेष्ठ कर्मों की कलम द्वारा सम्पन्न तकदीर की लकीर खींचने वाले, समय के महत्व को जान सर्व प्राप्ति स्वरूप श्रेष्ठ आत्माओं को बापदादा का सम्पन्न बनाने का याद-प्यार और नमस्ते।

पार्टियों से अव्यक्त बापदादा की मुलाकात

1. सदा अपना अलौकिक जन्म, अलौकिक जीवन, अलौकिक बाप, अलौकिक वर्सा याद रहता है? जैसे बाप अलौकिक है तो वर्सा भी अलौकिक है। लौकिक बाप हद का वर्सा देता, अलौकिक बाप बेहद का वर्सा देता। तो सदा अलौकिक बाप और वर्से की स्मृति रहे। कभी लौकिक जीवन के स्मृति में तो नहीं चले जाते। मरजीवा बन गये ना। जैसे शरीर से मरने वाले कभी भी पिछले जन्म को याद नहीं करते, ऐसे अलौकिक जीवन वाले, जन्म वाले, लौकिक जन्म को याद नहीं कर सकते। अभी तो युग ही बदल गया। दुनिया कलियुगी है, आप संगमयुगी हो, सब बदल गया। कभी कलियुग में तो नहीं चले जाते? यह भी बार्डर है। बार्डर क्रास किया और दुश्मन के हवाले हो गये। तो बार्डर क्रास तो नहीं करते? सदा संगमयुगी अलौकिक जीवन वाली श्रेष्ठ आत्मा हैं, इसी स्मृति में रहो। अभी क्या करेंगे? बड़े से बड़ा बिजनेस मैन बनो। ऐसा बिजनेस मैन जो एक कदम में पदमों की कमाई जमा करने वाले। सदा बेहद के बाप के हैं, तो बेहद की सेवा में, बेहद के उमंग-उत्साह से आगे बढ़ते रहो।

2. सदा डबल लाइट स्थिति का अनुभव करते हो? डबल लाइट स्थिति की निशानी है सदा उड़ती कला। उड़ती कला वाले कभी भी माया के आकर्षण में नहीं आ सकते। उड़ती कला वाले सदा विजयी? उड़ती कला वाले सदा निश्चय बुद्धि निश्चिन्त। उड़ती कला क्या है? उड़ती कला अर्थात् ऊंचे से ऊंची स्थिति। उड़ते हैं तो ऊंचा जाते हैं ना। ऊंचे ते ऊंची स्थिति में स्थित रहने वाली ऊंची आत्मायें समझ आगे बढ़ते चलो। उड़ती कला वाले अर्थात् बुद्धि रूपी पाँव धरनी पर नहीं। धरनी अर्थात् देह भान से ऊपर। जो देह भान की धरनी से ऊपर रहते वह सदा फरिश्ते हैं, जिसका धरनी से कोई रिश्ता नहीं। देह भान को भी जान लिया, देही-अभिमानी स्थिति को भी जान लिया। जब दोनों के अन्तर को जान गये तो देह-अभिमान में आ नहीं सकते। जो अच्छा लगता है वही किया जाता है ना। तो सदा इसी स्मृति में रहो कि मैं हूँ ही फरिश्ता। फरिश्ते की स्मृति से सदा उड़ते रहेंगे। उड़ती कला में चले गये तो नीचे की धरनी आकर्षित नहीं कर सकती है, जैसे स्पेस में जाते हैं तो धरनी आकर्षित नहीं करती, ऐसे फरिश्ता बन गये तो देह रूपी धरनी आकर्षित नहीं कर सकती।

3. सदा सहयोगी, कर्मयोगी, स्वत: योगी, निरन्तर योगी ऐसी स्थिति का अनुभव करते हो? जहाँ सहज है वहाँ निरंतर है। सहज नहीं तो निरन्तर नहीं। तो निरन्तर योगी हो या अन्तर पड़ जाता है? योगी अर्थात् सदा याद में मगन रहने वाले। जब सर्व सम्बन्ध बाप से हो गये तो जहाँ सर्व सम्बन्ध हैं वहाँ याद स्वत: होगी और सर्व सम्बन्ध हैं तो एक की ही याद होगी। है ही एक तो सदा याद रहेगी ना। तो सदा सर्व सम्बन्ध से एक बाप दूसरा न कोई। सर्व सम्बन्ध से एक बाप… यही सहज विधि है, निरन्तर योगी बनने की। जब दूसरा सम्बन्ध ही नहीं तो याद कहाँ जायेगी। सर्व सम्बन्धों से सहजयोगी आत्मायें यह सदा स्मृति रखो। सदा बाप समान हर कदम में स्नेह और शक्ति दोनों का बैलेंस रखने से सफलता स्वत: ही सामने आती है। सफलता जन्म सिद्ध अधिकार है। बिजी रहने के लिए काम तो करना ही है लेकिन एक है मेहनत का काम, दूसरा है खेल के समान। जब बाप द्वारा शक्तियों का वरदान मिला है तो जहाँ शक्ति है वहाँ सब सहज है। सिर्फ परिवार और बाप का बैलेंस हो तो स्वत: ही ब्लैसिंग प्राप्त हो जाती है। जहाँ ब्लैसिंग है वहाँ उड़ती कला है। न चाहते हुए भी सहज सफलता है।

4. सदा बाप और वर्सा दोनों की स्मृति रहती है? बाप कौन और वर्सा क्या मिला है यह स्मृति स्वत: समर्थ बना देती है। ऐसा अविनाशी वर्सा जो एक जन्म में अनेक जन्मों की प्रालब्ध बनाने वाला है, ऐसा वर्सा कभी मिला है? अभी मिला है, सारे कल्प में नहीं। तो सदा बाप और वर्सा इसी स्मृति से आगे बढ़ते चलो। वर्से को याद करने से सदा खुशी रहेगी और बाप को याद करने से सदा शक्तिशाली रहेंगे। शक्तिशाली आत्मा सदा मायाजीत रहेगी और खुशी है तो जीवन है। अगर खुशी नहीं तो जीवन क्या? जीवन होते भी ना के बराबर है। जीते हुए भी मृत्यु के समान है। जितना वर्सा याद रहेगा उतनी खुशी रहेगी। तो सदा खुशी रहती है? ऐसा वर्सा कोटों में कोई को मिलता है और हमें मिला है। यह स्मृति कभी भी भूलना नहीं। जितनी याद उतनी प्राप्ति। सदा याद और सदा प्राप्ति की खुशी।

कुमारों से – कुमार जीवन शक्तिशाली जीवन है। तो ब्रह्माकुमार अर्थात् रूहानी शक्तिशाली, जिस्मानी शक्तिशाली नहीं, रूहानी शक्तिशाली। कुमार जीवन में जो चाहे वह कर सकते हो। तो आप सब कुमारों ने अपने इस कुमार जीवन में अपना वर्तमान और भविष्य बना लिया, क्या बनाया? रूहानी बनाया। ईश्वरीय जीवन वाले ब्रह्माकुमार बने तो कितने श्रेष्ठ जीवन वाले हो गये। ऐसी श्रेष्ठ जीवन बन गई जो सदा के लिए दुख से और धोखे से, भटकने से किनारा हो गया। नहीं तो जिस्मानी शक्ति वाले कुमार भटकते रहते हैं। लड़ना, झगड़ना दु:ख देना, धोखा देना….यही करते हैं ना। तो कितनी बातों से बच गये। जैसे स्वयं बचे हो वैसे औरों को भी बचाने का उमंग आता है। सदा हमजिन्स को बचाने वाले। जो शक्तियाँ मिली हैं वह औरों को भी दो। अखुट शक्तियाँ मिली है ना। तो सबको शक्तिशाली बनाओ। निमित्त समझकर सेवा करो। मैं सेवाधारी हूँ, नहीं। बाबा कराता है मैं निमित्त हूँ। निमित्त समझकर सेवा करो। मैं सेवाधारी हूँ नहीं। बाबा कराता है मैं निमित्त हूँ। मैं पन वाले नहीं। जिसमें मैं पन नहीं है वह सच्चे सेवाधारी हैं।

युगलों से – सदा स्वराज्य अधिकारी आत्मायें हो? स्व का राज्य अर्थात् सदा अधिकारी। अधिकारी कभी अधीन नहीं हो सकते। अधीन हैं तो अधिकार नहीं। जैसे रात है तो दिन नहीं। दिन है तो रात नहीं। ऐसे अधिकारी आत्मायें किसी भी कर्मेन्द्रियों के, व्यक्ति के, वैभव के अधीन नहीं हो सकते। ऐसे अधिकारी हो? जब मास्टर सर्वशक्तिवान बन गये तो क्या हुए? अधिकारी। तो सदा स्वराज्य अधिकारी आत्मायें हैं, इस समर्थ स्मृति से सदा सहज विजयी बनते रहेंगे। स्वप्न में भी हार का संकल्प मात्र न हो। इसको कहा जाता है – सदा के विजयी। माया भाग गई कि भगा रहे हो? इतना भगाया है जो वापस न आये। किसको वापस नहीं लाना होता है तो उसको बहुत-बहुत दूर छोड़कर आते हैं। तो इतना दूर भगाया है। अच्छा

वरदान:- ब्राह्मण जीवन में एक बाप को अपना संसार बनाने वाले स्वत: और सहजयोगी भव 
ब्राह्मण जीवन में सभी बच्चों का वायदा है – “एक बाप दूसरा न कोई”। जब संसार ही बाप है, दूसरा कोई है ही नहीं तो स्वत: और सहजयोगी स्थिति सदा रहेगी। अगर दूसरा कोई है तो मेहनत करनी पड़ती है। यहाँ बुद्धि न जाए, वहाँ जाए। लेकिन एक बाप ही सब कुछ है तो बुद्धि कहाँ जा नहीं सकती। ऐसे सहजयोगी, सहज स्वराज्य अधिकारी बन जाते हैं। उनके चेहरे पर रूहानियत की चमक एकरस एक जैसी रहती है।
स्लोगन:- बाप समान अव्यक्त वा विदेही बनना – यही अव्यक्त पालना का प्रत्यक्ष सबूत है।

 

सूचना:- आज मास का तीसरा रविवार है। सभी भाई बहिनें संगठित रूप में सायं 6.30 से 7.30 बजे तक प्रकृति सहित सर्व आत्माओं को शान्ति और शक्ति की सकाश देने की सेवा करें।

TODAY MURLI 18 AUGUST 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 18 August 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 17 August 2018 :- Click Here

18/08/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, wake up in the early morning hours of nectar and sit in meditation. Think: I am a soul and my Baba is the Master of the Garden. He is the Boatman and I am His child. Become a master and churn the jewels of knowledge.
Question: Which one aspect is given importance by the world outside and also by the Father?
Answer: That of donating. You children have to become merciful and have compassion for everyone. Give the donation of the imperishable jewels of knowledge to everyone. Donors are praised a great deal. Their names are mentioned in the newspapers. You also have to donate to others, that is, teach them meditation.
Song: My heart says thanks to the One who has given me support. 

Om shanti. Support is given to those who are drowning. They are given support in order to take them across because the people of Bharat recognise the term “The Boatman”. The task of a boatman is to save someone from drowning. You children understand that the boat of the people of Bharat has sunk. Every aspect applies to the people of Bharat. This cannot be said of the people of any other land. It is only you who understand this. The story of becoming a true Narayan, that is, the story of immortality, takes place here. When you sit in meditation in the early morning hours, whom do you remember? On the path of devotion, some remember one deity and others remember another. All their spiritual endeavours are inaccurate because they don’t have the Boatman or the Master of the Garden to teach them. Gurus teach people meditation and tell them what to do. They make a great deal of effort to stay in remembrance. Yoga is called spiritual endeavour. Human beings teach that to other human beings. You now understand that the Supreme Father, the Supreme Soul, is the Gardener of this garden, that He is the Master of the Garden. Ravan is the master of the forest of thorns. Maya, Ravan creates the forest of thorns. Only a few people understand your things; they forget them. Maya makes them forget. Maya creates huge obstacles when you sit in meditation. The Father also teaches you how to have meditation. You are karma yogis. You have to perform actions during the day. There is no bondage in this. They cannot have meditationduring the day. During the day there is eating, drinking, playing, dancing and doing business etc. They are not able to maintain remembrance whilst doing any of that. Many say that they stay in remembrance throughout the whole day. However, that would be very difficult. Baba shares his own experience. The time of the early morning hours of nectar is the purest time of all. It is easy to have remembrance at that time. The time of amrit vela is the best of all. There are many things that you have to attend to during the day. Yes, it is good if you are able to have constant remembrance whilst doing things. However, Baba shares his experience: I try very hard to talk to you whilst staying in remembrance of Baba. Internally, I have the intoxication: I, the father, Prajapita Brahma, am speaking to you children. I am the father of the human world. I become intoxicated with this consciousness, but I find it very difficult to maintain the consciousness that I am a soul and that I am talking to you whilst staying in remembrance of the Supreme Father, the Supreme Soul. That remembrance is very difficult. Baba shares his experience. The Father also teaches you. He (Shiv Baba) understands that He is the Master of the Garden. A gardener would surely create a garden. He would not create thorns. A gardener would not plant thorns. A gardener is always the master of the garden; he plants flowers. Therefore, Baba too plants flowers. It is Maya that creates the forest of thorns. By following her directions, human beings become like thorns. You have received the knowledge that Baba is the Gardener; He is the Boatman; He is also the Merciful One and He is the Seed as well. When you sit in meditation at night, you have the thought that this garden is so huge! Previously, it used to be very small. As well as yoga, knowledge is also needed. Human beings don’t have any knowledge. They have many types of yoga: they must be sitting and remembering someone or other. There is no question of knowledge in that. When they sit to remember Mother Kali, only the face of Kali appears in front them at that time. They also continue to remember Jagadamba. That is the path of devotion. Neither do they have remembrance of the Father nor do they remember the inheritance. They perform devotion in many different ways. Some turn the beads of a rosary, some turn the beads in an incognito way. Your rosary is also incognito. They have so many customs and systems on the path of devotion. Baba has experienced this in his childhood: My father used to turn the beads of a rosary. Then, when I saw him, I too used to sit in a little room and turn the beads of a rosary. He used to chant: Rama! Rama! That’s all! He had no knowledge. You children now have knowledge. When you form the habit of sitting in this meditation in the early morning hours of nectar, you will experience a great deal of pleasure. Baba shares his experience. He also continues to churn this knowledge. This is such a huge garden! Previously it used to be small. When you remember the Seed you will also remember the garden. How is the garden created? Baba has this knowledge and you also have this knowledge. The whole tree enters your intellects. All of this spins inside you. This is called meditation. You have the happiness of belonging to the Father and you also have the happiness of knowledge; you remember both things. Those who have the knowledge of the element of light do not sit in medi ta tion in this way. They only remember the element of light. All they want is to merge into the element. They don’t know the Creator or His creation and so their ideas are totally different from those of you children. You have the knowledge that Baba is the Seed. By sitting in meditation at night, you can have very good thoughts. You can understand what you used to do on the path of devotion. People teach many types of hatha yoga etc. You have now understood that, by remembering the Father, you are able to remember the whole of His creation (tree). You have been around the cycle of 84 births and you are now going back home. This cycle of the drama continues to turn. You remember the wealth of knowledge and also remember the One who gives you this wealth. The more you stay in remembrance, the firmer your stage will become. You can explain to anyone how you sit in meditation. Human beings receive many different instructions to remember So-and-so. Here, all of you are following one direction. You stay in remembrance of the One. Young, old, everyone receives the same direction. You have to sit in meditation. We souls cannot be the Supreme Soul. The soul says: I have completed 84 births; I now have to return home. Would the Supreme Soul say this? He doesn’t take birth and rebirth. When people come to you, take them to the hall. When you see eminent people coming here to understand more, bring them here and explain to them how we sit in meditation, how we meditate in the night as well as during the day and how we only remember the one Father. The Father’s orders are: Remember Me and remember the cycle of creation; 84 births have also been remembered. It was surely the deities who existed first. It is their 84 births that have been remembered. You have to explain the secrets of the cycle very clearly. You remember the Father and the cycle of His creation. Your intellects have remembrance of the Father and also the knowledge of the beginning, the middle and the end of creation. We all follow one direction. We are following shrimat. The Purifier Father comes and gives you your unlimited inheritance of heaven and so you definitely have to remember the Father. It is from the Father that you claim your inheritance. Later, you fall and you become impure by the end. The Father is the Creator and so He would surely give the knowledge of creation. God, the Father, is knowledge-full, the Purifier. Therefore, He would definitely come into the impure world in order to purify it. If you sit and explain this to others, they will be very impressed. Tell them: Don’t simply say that this is good and then leave. You have to put it into practice. There is a burden of sin of innumerable births on your heads and it takes time to remove it. You have to explain to them: Baba has come, and death is standing just ahead. If you become careless, you will not be able to claim your inheritance. You must not delay in carrying out an auspicious task. Learn and go. By sitting in meditation you will experience a great deal of intoxication. Now remember the Father. He is your Father, the One whom you have been remembering on the path of devotion for birth after birth. You have had a different physical father in every birth, but you still definitely remember the incorporeal Father because He is your eternal Father. You receive a perishable inheritance from your physical father. You receive the imperishable inheritance from the imperishable Father. You become elevated by following the shrimat of the One who is doubly elevated (Shri shri). The original eternal religion is that of the deities; the different clans emerge from that. The renunciation of sannyasis is of a semi-pure level whereas your renunciation is completely pure. This is Raja Yoga. The main scripture of Bharat is the Gita. As for meditation, you have to explain: The Father teaches us meditation in this way. No human being can be called God. The God of everyone has to be one. He is the Purifier. He is Heavenly God, the Father,and He only comes in Bharat. A huge temple was built to Him on the path of devotion. We become elevated by following the directions of the One who is doubly elevated. Sit and understand these things. Understand the Father and the beginning, the middle and the end of His creation. No one else knows this. The duration of the golden age is shown to be just this much. When the tree is new, it is called heaven. After that, it starts to decay. This whole world is now hell. Not only every home, but also the whole world has become hell. This is the forest of thorns. They continue to prick one another. The Father has come to create the garden of Allah. The Father comes and establishes Paradise. You understand what is known as the garden of flowers and what is known as the forest of thorns. You are becoming divine flowers. You should continue to have these thoughts. Baba has this knowledge and you children also have this knowledge. By having such thoughts at night, you will experience great pleasure. You should explain in this way, because those poor helpless things do not know anything and that is why you feel compassion for them. They call out: O God, the Father! However, they don’t know the Father or His creation. We have now become the children of Allah. There should be great intoxication whilst explaining this. You have the imperishable jewels of knowledge so you should donate them. Donors are praised a great deal. Their names are mentioned in the newspapers. It is religious-minded people who give donations. You are religious minded. If you don’t make this donation, what would you receive? You definitely have to donate. It is very easy to donate knowledge. Baba tells you how to sit in meditation and how the cycle of the world turns. Previously, there was one religion. Then other religions later emerged. All of those are clans. These things should sit in the intellects of you children. Human beings are very interested in yoga. Tell them: Come and try our meditation. Those who are religious minded will become happy when they see the meditation hallReligious-minded people never commit sin. Although you children have many points to explain, you are numberwise. The locks on the intellects of some of you do not open at all. How would the lock open if you don’t remember the Father? This is something very easy. You have to explain how you sit in remembrance. People don’t even know who it is we remember. The incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, Himself, who is the Father of all, is teaching us. He is the Purifier, God the Father, and He is teaching us Raja Yoga. It is now up to you whether you study or not. All of us are following one direction. We are taking directions from the One who is doubly elevated. This is the aim and objective. Just as the Father is knowledge-full, so are His children. Only the one Father can change humans into deities. By having such thoughts at night also you will experience great pleasure. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Awaken in the early morning hours of nectar, churn the knowledge whilst sitting in remembrance. Remember the wealth of knowledge as well as the Bestower of Knowledge.
  2. Stay in Godly intoxication and do service. Show everyone the easy way to do meditation. Remain in harmony by following one direction.
Blessing: May you be soul conscious and with the personality and royalty of purity thereby come close to the Father.
Just as a physical personality can bring souls into body consciousness, in the same way, the personality of purity makes you soul conscious and brings you close to the Father. The personality of purity attracts souls towards purity. The royalty of purity frees you from having to pay any royaltyto Dharamraj. According to this royalty you can come into the royal family in the future. Soul-conscious children with this personality become spiritual mirrors to grant a vision of the Father.
Slogan: Always wear the spectacles of seeing each one’s speciality and you will become a special soul.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 18 AUGUST 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 18 August 2018

To Read Murli 17 August 2018 :- Click Here
18-08-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – अमृतवेले उठ मेडीटेशन में बैठो, विचार करो – मैं आत्मा हूँ, हमारा बाबा बागवान है, वही खिवैया है, मैं उसकी सन्तान हूँ, मालिक बन ज्ञान रत्नों का सिमरण करो”
प्रश्नः- किस एक बात का महत्व दुनिया में भी है तो बाप के पास भी है?
उत्तर:- दान का। तुम बच्चों को रहमदिल बन सबके ऊपर तरस खाना है। सबको अविनाशी ज्ञान रत्नों का दान देना है। दानियों की बहुत महिमा होती है। अ़खबार में भी उनका नाम निकलता है। तो तुम्हें भी सबको दान करना है अर्थात् मेडीटेशन सिखलाना है।
गीत:- मुझको सहारा देने वाले…….. 

ओम् शान्ति। सहारा उनको दिया जाता है जो डूबते हैं, उनको पार करने के लिये सहारा देते हैं क्योंकि खिवैया नाम तो भारतवासी जानते हैं। खिवैया का काम है डूबने वाले को बचाना। बच्चे जानते हैं – भारतवासियों का बेड़ा डूबा हुआ है। हर बात भारतवासियों के लिये ही है। और कोई खण्ड के लिये नहीं कहेंगे। यह भी तुम समझते हो। सत्य नारायण की कथा अथवा अमरनाथ की कथा भी यहाँ होती है। तुम जबकि सुबह को मेडीटेशन में बैठते हो तो किसको याद करते हो? भक्ति मार्ग में तो कोई किसको, कोई किसको याद करते हैं। उन सबकी साधना है अयथार्थ। सिखलाने वाला खिवैया वा बागवान तो कोई है नहीं। गुरू लोग भी मेडीटेशन सिखलाते हैं कि ऐसे-ऐसे करो। बहुत प्रयत्न करते हैं याद में रहने के लिये। योग साधना कहा जाता है। वह तो मनुष्य, मनुष्य को कराते हैं। अभी तुम जानते हो इस बगीचे का माली अथवा मालिक है परमपिता परमात्मा। कांटों के जंगल का मालिक है रावण। माया रावण कांटों का जंगल बनाती है। यह तुम्हारी बातें भी कोई-कोई जानते हैं। भूल जाते हैं। माया भुला देती है। मेडीटेशन में बैठने में भी माया बड़ा विघ्न डालती है। मेडीटेशन कैसे करो – यह भी बाप सिखलाते हैं। तुम तो कर्मयोगी हो। दिन में तो कर्म करना ही है। उसके लिये कोई बंधन नहीं है। दिन में कभी भी मेडीटेशन नहीं होती है। दिन में तो खाना-पीना, खेलना-कूदना, धन्धाधोरी करना होता है। उसमें याद थोड़े-ही रह सकती है। कहते तो बहुत हैं कि हम सारा दिन याद में रहते हैं परन्तु है तो बड़ा मुश्किल। बाबा अनुभव बतलाते हैं। अमृतवेले का समय सतोगुणी होता है, उस समय याद करना सहज है। अमृतवेले का टाइम सबसे अच्छा है। दिन में तो लफड़े रहते हैं। हाँ, कर्म करते समय याद स्थाई रह सकती तो है बहुत अच्छा। परन्तु बाबा अपना अनुभव बतलाते हैं – मैं कोशिश करता हूँ बाबा की याद में रह तुमसे बात करुँ। अन्दर यह नशा रहता है – मैं स्वयं बाप (प्रजापिता ब्रह्मा) बच्चों से बात करता हूँ। मैं स्वयं मनुष्य सृष्टि का बाप हूँ – ऐसा समझने से नशा चढ़ता है। बाकी मैं आत्मा हूँ, परमपिता परमात्मा बाप को याद कर बात करुँ, वह याद बड़ा मुश्किल रहती है। बाबा अपना अनुभव बतलाते हैं ना। बाप सिखलाते भी हैं। यह तो जानते हैं हम बागवान हैं। बागवान तो जरूर बगीचा ही बनायेंगे। कांटों को थोड़े-ही बनायेंगे। माली कांटों का बीज थोड़े-ही लगायेंगे। माली हमेशा बागवान होते हैं, फूल लगाते हैं। तो बाबा भी फूल लगाते हैं। फारेस्ट बनाने वाली है माया। उनकी मत पर चलने से मनुष्य कांटे बन जाते हैं। यह तो ज्ञान मिला है – बाबा बागवान है, खिवैया है, रहमदिल भी है, बीजरूप भी है। रात को जब बैठते हैं तो ख्याल चलता है – यह कितना बड़ा बगीचा है! पहले कितना छोटा था! तो योग के साथ-साथ ज्ञान भी चाहिए। मनुष्यों के पास ज्ञान तो कुछ भी नहीं है। अनेक प्रकार के योग लगाते हैं। किसी न किसी की याद में बैठते होंगे। ज्ञान की बात ही नहीं। काली माँ की याद में बैठे होंगे तो सिर्फ काली की शक्ल ही सामने आयेगी। जगदम्बा को याद करते रहेंगे। वह है भक्ति मार्ग। न बाप की याद, न वर्से की याद रहती है। भक्ति बहुत तरीके से करते हैं। माला फेरते हैं। कोई तो गुप्त फेरते हैं। हमारी भी है गुप्त माला। तो यह रस्म-रिवाज भक्ति मार्ग में कितनी चलाते हैं। बाबा को छोटेपन का अनुभव है। जैसे बाप फेरते थे, हम भी उनको देख एक कोठरी में बैठ माला फेरते थे। राम-राम कहते थे। बस, ज्ञान कुछ भी नहीं। अभी तुम बच्चों में तो ज्ञान है। अमृतवेले इस मेडीटेशन में बैठने की आदत पड़ जाये तो बड़ा मजा आयेगा। बाबा अपना अनुभव बतलाते हैं। ज्ञान में भी रमण करते रहते हैं। कितना बड़ा बगीचा है। पहले छोटा था। बीज भी याद आया, बगीचा भी याद आया। कैसे बगीचा बनता है – बाबा में भी यह ज्ञान है, हमारे में भी यह ज्ञान है। सारा झाड़ बुद्धि में आ जाता है। अन्दर चलता रहता है, इसको मेडीटेशन कहा जाता है। बाप की भी खुशी, ज्ञान की भी खुशी रहती है। दोनों चीजें याद आती हैं। वह तत्व ज्ञानी ऐसे मेडीटेशन में नहीं बैठते हैं। उनको तो जरूर तत्व ही याद आयेगा। बस, तत्व में लीन हो जाना है। रचयिता और रचना का तो उन्हों को पता ही नहीं है। तो उन्हों की और तुम बच्चों की बात और है।

बाबा बीजरूप है – हमको यह नॉलेज है। रात को बैठने से अच्छे-अच्छे ख्यालात आयेंगे। समझ सकते हैं भक्ति मार्ग में क्या-क्या करते थे। कितने हठयोग आदि सिखलाते हैं। अभी तो समझ मिली है बाप को याद करने से उनकी सारी रचना (झाड़) याद आ जाती है। हम 84 जन्मों का चक्र लगाकर आये हैं। अभी हम जाते हैं वापिस। यह ड्रामा का चक्र फिरता रहता है। ज्ञान धन को भी याद करते, धन देने वाले को भी याद करते हैं। जितना याद में रहेंगे उतना अवस्था परिपक्व होती जायेगी। तुम किसको भी समझा सकते हो – मेडीटेशन में हम कैसे बैठते हैं। मनुष्यों को तो अनेक प्रकार की मत मिलती है – फलाने को याद करो। यहाँ हम सब एक मत पर हैं, एक की ही याद में रहते हैं। छोटे, बड़े, बूढ़े – सबको एक ही मत मिलती है। मेडीटेशन में तो बैठना होता है ना। हम आत्मा सो परमात्मा तो हो नहीं सकते। आत्मा कहती है – हमने 84 जन्म पूरे किये, अब वापिस जाना है। परमात्मा ऐसे कहेंगे क्या? वह तो पुनर्जन्म में आते नहीं हैं। तुम्हारे पास जब कोई आये तो उसे हाल में ले आओ। कोई अच्छे-अच्छे आदमी आते हैं, देखो, समझने की चाहना है तो यहाँ ले आओ, उन्हें समझाओ कि हम कैसे मेडीटेशन करते हैं। रात में भी मेडिटेशन करते हैं, दिन में भी करते हैं। हम याद करते हैं एक बाप को। बाप का फ़रमान है – मुझे याद करो और रचना के चक्र को याद करो। 84 जन्म भी गाये जाते हैं। जरूर पहले-पहले देवी-देवतायें थे। उन्हों के ही 84 जन्म भी गाये जाते हैं। यह चक्र का राज़ अच्छी रीति समझाना पड़े। हमको बाप और उनकी रचना का यह चक्र याद रहता है। बाप की याद और रचना के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान बुद्धि में है। हम सबकी एक ही मत है। हम हैं श्रीमत पर। वह पतित-पावन बाप ही आकर बेहद स्वर्ग का वर्सा देते हैं। तो बाप को जरूर याद करना पड़े ना। बाप द्वारा ही हम वर्सा पाते हैं। फिर गिरते हैं, अन्त में पतित बन जाते हैं। बाप रचयिता तो रचना की ही नॉलेज देंगे। गॉड फादर इज़ नॉलेजफुल, पतित-पावन। तो जरूर पतित दुनिया में आकर पावन बनायेंगे ना। ऐसे तुम कोई को बैठ समझायेंगे तो प्रभावित होंगे। बोलो, सिर्फ अच्छा-अच्छा कहकर नहीं जाओ, यह तो प्रैक्टिकल में लाना है। जन्म-जन्मान्तर का सिर पर बोझा बहुत है। इसमें टाइम लगता है।

तुमको समझाना है – बाबा आया हुआ है, मौत सामने है, ग़फलत करेंगे तो वर्सा पा नहीं सकेंगे। शुभ कार्य में देरी नहीं करना चाहिए। अब सीखकर जाओ। इस मेडीटेशन में बैठने से तुमको नशा अच्छा चढ़ेगा। अभी बाप को याद करो। तुम्हारा बाप तो है ना। भक्ति मार्ग में जन्म-जन्मान्तर याद करते आये हो। लौकिक बाप तो हर जन्म में बदलता है फिर भी तुम निराकार बाप को जरूर याद करते हो क्योंकि वह है अविनाशी बाप। विनाशी (लौकिक) बाप से विनाशी वर्सा मिलता है। अविनाशी बाप से अविनाशी वर्सा मिलता है। हम एक श्री श्री की श्रीमत से श्रेष्ठ बनते हैं। आदि सनातन तो देवी-देवता धर्म ही है। उनसे फिर और बिरादरी निकलती हैं। सन्यासियों का है रजोप्रधान सन्यास। यह है सतोप्रधान सन्यास। यह है ही राजयोग।

भारत का मुख्य शास्त्र है गीता। तो मेडीटेशन के लिये यह समझाना है – बाप हमको ऐसे मेडीटेशन सिखलाते हैं। भगवान् कभी मनुष्य को नहीं कह सकते। भगवान् तो सबका एक होना चाहिये ना। वही पतित-पावन है, वही हेविनली गॉड फादर है और आते भी भारत में हैं। उनका भक्ति मार्ग में कितना बड़ा मन्दिर बना हुआ है। उस श्री श्री की मत से ही हम श्रेष्ठ बनते हैं। इन बातों को बैठ समझो। बाप और रचना के आदि-मध्य-अन्त को जानो। यह और कोई नहीं जानते। सतयुग की आयु ही इतनी बतलाते हैं। पहले झाड़ नया होता है तो उसको स्वर्ग कहेंगे। फिर वह जड़जड़ीभूत हो जाता है। अभी यह सारी दुनिया नर्क है। घर-घर तो क्या सारी दुनिया ही नर्क है। यह है ही कांटों का जंगल। एक-दो को कांटा ही लगाते रहते हैं। बाप आकर फिर गार्डन ऑफ अल्लाह बनाते हैं। बाप आकर बहिश्त स्थापन करते हैं। तुम जानते हो फूलों का बगीचा किसको और कांटों का जंगल किसको कहा जाता है। तुम दैवी फूल बन रहे हो। तो चिन्तन चलता रहना चाहिए। बाबा में भी यह नॉलेज है। बच्चों में भी यह नॉलेज है। ऐसे-ऐसे ख्यालात चलाने से रात को बड़ा मजा आयेगा, ऐसे-ऐसे समझायें। बिचारे कुछ नहीं जानते हैं इसलिए अपने को तरस पड़ता है। ओ गॉड फादर कहते हैं। परन्तु बाप को और उनकी रचना को जानते नहीं हैं। हम भी अब अल्लाह के बच्चे बने हैं। समझाने का भी बड़ा नशा चाहिए। अविनाशी ज्ञान रत्न हैं तो फिर दान करना चाहिए। दानी की बहुत-बहुत महिमा करते हैं। अ़खबार में भी पड़ता है। रिलीजस माइन्डेड ही दान करते हैं। तुम तो हो ही रिलीजस माइन्डेड। दान ही नहीं करेंगे तो मिलेगा क्या? दान तो जरूर देना है। ज्ञान दान देना तो अति सहज है। बाबा बतलाते हैं – हम ऐसे मेडीटेशन में बैठते हैं, इस दुनिया का चक्र ऐसे फिरता है। पहले एक धर्म था। पीछे यह धर्म निकले हैं। यह सब बिरादरियां हैं। यह बातें तुम बच्चों की बुद्धि में बैठनी चाहिए। मनुष्यों को योग का बहुत शौक रहता है। बोलो, हमारा मेडीटेशन चलकर देखो। रिलीजस माइन्डेड जो होते हैं वह मेडीटेशन हाल देखकर खुश होते हैं। रिलीजस माइन्डेड मनुष्य कभी पाप नहीं करते। तुम्हारे पास समझाने की प्वाइन्ट्स तो बहुत हैं। परन्तु बच्चे नम्बरवार हैं। कोई की बुद्धि का ताला ही नहीं खुलता है। बाप को याद नहीं करते तो ताला खुलेगा कैसे? है बहुत सहज बात। समझाना है हम याद में कैसे बैठते हैं। मनुष्यों को तो पता नहीं कि हम किसको याद करते हैं! हमको सिखलाने वाला स्वयं निराकार परमपिता परमात्मा है जो सबका बाप है। वह पतित-पावन गॉड फादर हमको राजयोग सिखलाते हैं। अब तुम सीखो, न सीखो। हम सबकी तो एक ही मत है। श्री श्री से हम मत ले रहे हैं। यह है एम ऑब्जेक्ट। जैसे बाप नॉलेजफुल, वैसे बच्चे। मनुष्य से देवता एक ही बाप बनाते हैं। ऐसे-ऐसे विचार करने से रात को भी बहुत मजा आयेगा। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अमृतवेले उठ याद में बैठ ज्ञान का रमण करना है। ज्ञान धन को भी याद करना है तो ज्ञान दाता को भी याद करना है।

2) ईश्वरीय नशे में रहकर सेवा करनी है। सबको मेडीटेशन करने की सहज विधि समझानी है। एकमत होकर रहना है।

वरदान:- प्युरिटी की पर्सनैलिटी और रॉयल्टी द्वारा बाप के समीप आने वाले देही-अभिमानी भव
जैसे शरीर की पर्सनैलिटी आत्माओं को देहभान में लाती है, ऐसे प्युरिटी की पर्सनैलिटी देही-अभिमानी बनाए बाप के समीप लाती है। प्युरिटी की पर्सनैलिटी आत्माओं को प्युरिटी की तरफ आकर्षित करती है, प्युरिटी की रॉयल्टी धर्मराजपुरी की रॉयल्टी देने से छुड़ा देती है। इसी रायॅल्टी अनुसार भविष्य रायॅल फैमली में आ सकेंगे। देही-अभिमानी बच्चे इस पर्सनैलिटी द्वारा बाप का साक्षात्कार कराने वाले रूहानी दर्पण बन जाते हैं।
स्लोगन:- हरेक की विशेषता को देखने का चश्मा सदा लगा रहे तो विशेष आत्मा बन जायेंगे।

Brahma kumaris murli 18 August 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 18 August 2017

August 2017 Bk Murli :- Click Here

To Read Murli 17 August 2017 :- Click Here

BK murli today ~ 18/08/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली

18/08/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
”मीठे बच्चे – बाप जो ज्ञान की मीठी-मीठी बातें सुनाते हैं वह धारण करनी है – बहुत मीठा क्षीरखण्ड बनकर रहना है, कभी लून-पानी नहीं होना है”
प्रश्नः- किस महामंत्र से तुम बच्चों को नई राजधानी का तिलक मिल जाता है?
उत्तर:- बाप इस समय तुम बच्चों को महामंत्र देते हैं मीठे लाडले बच्चे – बाप और वर्से को याद करो। घर गृहस्थ में रहते कमल फूल समान रहो तो राजधानी का तिलक तुम्हें मिल जायेगा।
प्रश्नः- कहा जाता जैसी दृष्टि वैसी सृष्टि…यह कहावत क्यों है?
उत्तर:- इस समय के मनुष्य जैसे पतित हैं, काले हैं ऐसे अपने पूज्य देवताओं को, लक्ष्मी-नारायण, राम सीता को, शिवबाबा को भी काला बनाए उनकी पूजा करते हैं। समझते नहीं इसका अर्थ क्या है, इसीलिए यह कहावत है।
गीत:- मुखडा देख ले…

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों ने गीत की लाइन सुनी कि दिल रूपी दर्पण में देखो कि कितना पाप और कितना पुण्य किया है। पाप और पुण्य दिल रूपी दर्पण में विचार किया जाता है ना। यह तो है ही पाप आत्माओं की दुनिया। पुण्य आत्माओं की दुनिया सतयुग को कहा जाता है। यहाँ पुण्य आत्मा कहाँ से आये। सब पाप ही करते रहते हैं क्योंकि रावणराज्य है। खुद कहते भी हैं हे पतित-पावन आओ। हम जानते हैं कि भारत ही पुण्य आत्माओं का खण्ड था। कोई पाप नहीं करते थे। शेर बकरी इकट्ठा पानी पीते थे, क्षीरखण्ड थे। बाप भी कहते हैं बच्चे क्षीरखण्ड बनो। पुण्य आत्माओं की दुनिया में तमोप्रधान आत्मा कहाँ से आये। अभी बाप ने रोशनी दी है। तुम जानते हो कि हम सो सतोप्रधान देवी-देवता थे। उन्हों की महिमा ही है-सर्वगुण सम्पन्न, 16 कला सम्पूर्ण ….. हम खुद भी उनकी महिमा करते हैं। मनुष्य कहते हैं मुझ निर्गुण हारे में कोई गुण नाही। प्रभू आप आकर जब हम पर तरस करो तब हम भी ऐसे बन सकते हैं। यह आत्मा ने कहा। आत्मा समझती है इस समय हम पाप आत्मा हैं। पुण्य आत्मा तो देवी देवतायें हैं जो पूजे जाते हैं। सभी जाकर देवताओं के चरणों पर झुकते हैं। साधू सन्त आदि भी तीर्थों पर जाते हैं। अमरनाथ, श्रीनाथ द्वारे जाते हैं। तो यह है ही पाप आत्माओं की दुनिया। भारत ही पुण्य आत्माओं की दुनिया थी, जब लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। उनको ही कहा जाता है स्वर्ग। मनुष्य मरते हैं तो कहते हैं स्वर्ग गया। परन्तु स्वर्ग है कहाँ? स्वर्ग जब था तब सतयुग था। मनुष्यों को तो जो आता है सो कह देते हैं। समझते कुछ भी नहीं। स्वर्ग में गया तो जरूर नर्क में था। सन्यासी मरते हैं तो कहते हैं ज्योति ज्योत समाया। तो फर्क हो गया ना। ज्योति में समाया माना फिर यहाँ आना नहीं है। तुम जानते हो जहाँ हम आत्मायें रहती हैं उसे निर्वाणधाम कहा जाता है। वैकुण्ठ को निर्वाणधाम नहीं कहेंगे। बच्चों को बहुत मीठी-मीठी ज्ञान की बातें सुनाते हैं, जो बहुत अच्छी रीति धारण करनी चाहिए।

तुम जानते हो बाबा आये हैं हमको वैकुण्ठ का रास्ता बताने। बाप आये हैं राजयोग सिखलाने। पावन दुनिया का मार्ग बताए गाइड बन ले जाते हैं। बरोबर विनाश भी सामने खड़ा है। विनाश होता है – पुरानी दुनिया का। पुरानी दुनिया में ही उपद्रव आदि होते हैं। तो बाबा कितना मीठा है। अन्धों की लाठी बनते हैं। मनुष्य तो घोर अन्धियारे में धक्का खाते रहते हैं। गाया जाता है ब्रह्मा का दिन और ब्रह्मा की रात। ब्रह्मा तो यहाँ है ना। बाप आते ही हैं रात को दिन बनाने के लिए। आधाकल्प है रात, आधाकल्प है दिन। अभी तुमको मालूम हो गया है, वह तो समझते हैं कलियुग अजुन बच्चा है। कभी-कभी कहते हैं इस दुनिया का विनाश होना है, परन्तु समझते कुछ भी नहीं हैं। आजकल तो मुश्किल घरबार छोड़ते हैं। कोई कारण हो गया तो घर से जाकर सन्यासी बन जाते हैं। बीच में गवर्मेंट ने आर्डीनेंस निकाला था कि सन्यासियों को भी लायसेन्स होना चाहिए। ऐसे थोड़ेही कि जो घर से रूठे वह जाकर सन्यासी बने। मुफ्त में बहुत माल मिल जाते हैं। वह है हद का सन्यास, तुम्हारा है बेहद का सन्यास। इस समय सारी दुनिया पतित है, उनको फिर पावन बनाना एक पतित-पावन बाप का ही काम है। सतयुग में पवित्र गृहस्थ धर्म था। लक्ष्मी-नारायण के चित्र भी हैं। देवी-देवताओं की महिमा गाते हैं ना – सर्वगुण सम्पन्न… उनका है हठयोग कर्म सन्यास। लेकिन कर्म का सन्यास तो हो न सके। कर्म के बिना तो मनुष्य एक सेकेण्ड भी रह नहीं सकता। कर्म सन्यास अक्षर ही रांग है। यह है कर्मयोग, राजयोग। तुम सूर्यवंशी देवी-देवता थे। तुम जान गये हैं कि हमको 84 जन्म लेने पड़ते हैं। वर्ण भी गाये जाते हैं। ब्राह्मण वर्ण का किसको पता नहीं है।

बाप तुम बच्चों को महामंत्र देते हैं कि बाप और वर्से को याद करते रहो, तो तुमको राजधानी का तिलक मिल जायेगा। मीठे-मीठे लाडले बच्चे घर गृहस्थ में रहते कमल फूल समान रहो। जितना प्यार से काम निकल सकता है, उतना क्रोध से नहीं। बहुत मीठे बनो। बाप की याद में सदैव मुस्कराते रहो। देवताओं के चित्र देखो कितने हर्षित रहते हैं। अभी तुम जानते हो वह तो हम ही थे। हम सो देवता थे फिर सो क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र बनें। अभी हम संगम पर ब्रह्मा मुख वंशावली बने हैं। ब्रह्मा मुख वंशावली सो ईश्वर वंशी। बाप का वर्सा मिलता है मुक्ति और जीवनमुक्ति। यह भी तुम जानते हो जब देवी देवताओं का राज्य था तो और कोई धर्म नहीं था, चन्द्रवंशी भी नहीं थे। यह तो समझने की बात है ना। हम सो का अर्थ भी उन्होंने आत्मा सो परमात्मा निकाल लिया है। अभी तो तुम जानते हो हम सो देवता फिर क्षत्रिय…बनें। यह आत्मा कहती है। हम आत्मा पवित्र थी तो शरीर भी पवित्र था। वह है ही वाइसलेस वर्ल्ड। यह है विशश। दु:खधाम, सुखधाम और शान्तिधाम, जहाँ हम सब आत्मायें रहती हैं। कहते हैं हम सब चीनी-हिन्दू भाई-भाई हैं, परन्तु अर्थ भी तो समझें ना। आज भाई-भाई कहते कल बन्दूक लगाते रहते हैं। आत्मायें तो सब ब्रदर्स हैं। परमात्मा को सर्वव्यापी कहने से सब फादर हो जाते हैं। फादर को वर्सा देना है। ब्रदर्स को वर्सा लेना है। रात दिन का फर्क हो जाता है। वह तो पतित-पावन है ना, उनसे ही पावन बनना है। हम मनुष्य से देवता बनने चाहते हैं। ग्रंथ में भी है मनुष्य से देवता… गाया भी जाता है सेकेण्ड में जीवनमुक्ति। हम देवतायें जीवनमुक्त थे, अभी जीवनबन्ध बने हैं। रावण राज्य द्वापर से शुरू होता है फिर देवतायें वाम मार्ग में जाते हैं। यह निशानियां भी रखी हैं। जगन्नाथ पुरी में देवताओं के भी बहुत गन्दे चित्र हैं। आगे तो यह समझ में नहीं आता था। अब कितना समझ में आया है। वन्डर खाते थे कि देवताओं के ऐसे गन्दे चित्र यहाँ कैसे लगे हैं, और अन्दर काला जगत नाथ बैठा है। श्रीनाथ द्वारे में भी काले चित्र दिखाते हैं। यह किसको पता नहीं है कि जगन्नाथ की शक्ल काली क्यों दिखाई है। कृष्ण के लिए तो कहते हैं कि उनको सर्प ने डसा। राम को क्या हुआ? नारायण की शक्ल भी सांवरी दिखा देते हैं। शिवलिंग भी काला दिखाते हैं, सब काला ही काला दिखाते हैं। जैसी दृष्टि वैसी सृष्टि। इस समय हैं ही सब पतित काले, तो भगवान को भी काला बना दिया है। पहले-पहले शिव की पूजा करते थे, हीरों का लिंग बनाते थे। अब वह सब चीज़ें गायब हो गयी हैं। यह तो मोस्ट वैल्युबुल चीजें हैं। पुरानी चीज़ का मान कितना होता है। पूजा शुरू हुए 2500 वर्ष हुए, तो इतने पुराने होंगे और क्या! पुराने-पुराने चित्र देवी-देवताओं के हैं। यह फिर कह देते हैं लाखों वर्ष के हैं।

[wp_ad_camp_5]

 

अभी तुम जानते हो 5 हजार वर्ष पहले भारत स्वर्ग था। अभी कलियुग है, विनाश सामने खड़ा है। सबको जाना है। बाप ही सबको ले जाते हैं। ब्रह्मा द्वारा तुम ब्राह्मण बने, फिर तुम देवतायें पालना करेंगे। यह बातें कोई भागवत गीता में नहीं हैं। बाप कहते हैं यह नॉलेज गुम हो जाती है। लक्ष्मी-नारायण तो त्रिकालदर्शी नहीं हैं फिर यह ज्ञान परमपरा कैसे चल सकता है। तुम ही इस समय त्रिकालदर्शी हो। सबसे अच्छी सेवा इस समय तुम करते हो। तो तुम हो सच्चे-सच्चे रूहानी सोशल वर्कर। तुम अभी आत्म-अभिमानी बनते हो। आत्मा में जो खाद पड़ी है, वह निकले कैसे? बाप जौहरी भी है ना। सोना में आइरन की खाद पड़ते-पड़ते आत्मा पतित हो गई है। अब पावन कैसे बनें? बाप कहते हैं हे आत्मा मामेकम् याद करो। पतित-पावन बाप श्रीमत देते हैं। भगवानुवाच हे आत्मायें तुम्हारे में खाद पड़ती है, अभी तुम पतित हो। पतित फिर महात्मा थोड़ेही हो सकते हैं। एक ही उपाय है – मामेकम् याद करो। इस योग अग्नि से तुम्हारे विकर्म दग्ध होंगे। कितने आश्रम हैं। अनेक प्रकार के हठयोग के चित्र लगे हुए हैं। यह है योग अथवा याद की भट्ठी। भल गृहस्थ व्यवहार में रहो, भोजन आदि बनाओ। बच्चों की सम्भाल करो। अच्छा सवेरे तो टाइम है ना। कहा भी जाता है राम सिमर प्रभात मोरे मन। आत्मा में बुद्धि है। भक्ति भी सवेरे करते हैं। तुम भी सवेरे उठ बाप को याद करो, विकर्म विनाश करो। सारा किचड़ा निकल आत्मा कंचन बन जायेगी, फिर काया भी कंचन मिलेगी। अभी तुम्हारी आत्मा दो कैरेट भी नहीं है। भारत के देवी देवताओं के 84 जन्मों का हिसाब लेना पड़े। वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी रिपीट होती है। परन्तु आयु कितनी है, यह जानते नहीं। कल्प की आयु को ही नहीं जानते हैं। बाप कहते हैं मैं आया हूँ श्रीमत देने, श्रेष्ठ बनाने। याद की अग्नि से ही खाद निकलेगी और कोई उपाय नहीं है। बच्चों को बहादुर बनना है, डरो मत। जिनका रक्षक खुद भगवान बाप बैठा है उनको किससे डरना है? तुम्हें कोई श्राप आदि क्या देंगे? कुछ भी नहीं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) कोई भी काम प्यार से निकालना है, क्रोध से नहीं। बाप की याद में सदा हर्षित रहना है। सदा देवताओं जैसे मुस्कराते रहना है।

2) आत्मा में जो खाद पड़ी है वह याद की अग्नि से निकालनी है। विकर्म विनाश करने हैं। बहादुर बन सेवा करनी है। डरना नहीं है।

वरदान:- व्यर्थ संकल्पों के तेज बहाव को सेकण्ड में स्टॉप कर निर्विकल्प स्थिति बनाने वाले श्रेष्ठ भाग्यवान भव 
यदि कोई भी गलती हो जाती है तो गलती होने के बाद क्यों, क्या, कैसे, ऐसे नहीं वैसे…यह सोचने में समय नहीं गंवाओ। जितना समय सोचने स्वरूप बनते हो उतना दाग के ऊपर दाग लगाते हो, पेपर का टाइम कम होता है लेकिन व्यर्थ सोचने का संस्कार पेपर के टाइम को बढ़ा देता है इसलिए व्यर्थ संकल्पों के तेज बहाव को परिवर्तन शक्ति द्वारा सेकण्ड में स्टॉप कर दो तो निर्विकल्प स्थिति बन जायेगी। जब यह संस्कार इमर्ज हो तब कहेंगे भाग्यवान आत्मा।
स्लोगन:- खुशी के खजाने से सम्पन्न बनो तो दूसरे सब खजाने स्वत: आ जायेंगे।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 16 August 2017 :- Click Here

TODAY MURLI 18 August 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 18 August 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 17 August 2017 :- Click Here

BK murli today ~ 18/08/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली

 

18/08/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, imbibe the sweet points of knowledge that the Father tells you. Become very sweet like milk and sugar. Never become like salt water.
Question: With which great mantra do you children receive the tilak of the new kingdom?
Answer: At this time, the Father gives you children the great mantra: Sweet, beloved children, remember the Father and your inheritance. While living at home with your family, live like a lotus and you will receive the tilak of the kingdom.
Question: It is said: As is your vision, so the world. Why is there this saying?
Answer: Human beings at this time are impure and ugly and so they accordingly create such images of their worthy-of-worship deities Lakshmi and Narayan and Rama and Sita. They even create images of Shiv Baba in black stone and worship Him. They don’t understand what that means. This is why there is this saying.
Song: O man, look in the mirror of your heart!

Om shanti. You sweetest, beloved, long-lost and now-found, children heard a line from the song: Look in the mirror of your heart to see how much you have sinned and how much charity you have performed. By looking in the mirror of your heart consider how much sin and how much charity you have accumulated. This is the world of sinful souls. The golden age is called the world of charitable souls. How could there be charitable souls here? All continue to commit sin because this is Ravan’s kingdom. They themselves say: O Purifier, come! We know that Bharat was the land of charitable souls. No one committed sin there. Lion and lamb used to drink water from the same stream; they were like milk and sugar. The Father also says: Children, be like milk and sugar. How could tamopradhan souls exist in the world of charitable souls? The Father has now enlightened you. You know that you were satopradhan deities. There is their praise: Full of all virtues, sixteen celestial degrees full. We ourselves also used to praise them. People say: I am without virtue, I have no virtues. Prabhu, we can become like those when You come and have mercy on us. The soul said this. You souls understand that at this time you are sinful souls. Deities who are worshipped are charitable souls. Everyone goes and bows down at the feet of the deity idols. Sages and holy men also go on pilgrimages to Amarnath and Shrinath Dware. Therefore, this is the world of sinful souls. Bharat was the world of charitable souls when it used to be the kingdom of Lakshmi and Narayan. That was called heaven. When a person dies, people say that he has gone to heaven, but where is heaven? When it was heaven, it was the golden age. People simply say whatever enters their minds; they don’t understand anything. If he went to heaven, he must surely have been in hell. When a sannyasi dies, they say that he merged into the light, and so that is something different. To merge into the light means that he is not going to come back here. You know that the place where we souls reside is called the land of nirvana (beyond sound). Vaikunth (Paradise) cannot be called the land of nirvana. Baba tells you children very good, sweet things of knowledge, which you should imbibe very well. You know that Baba has come to show you the path to Paradise. The Father has come to teach us Raja Yoga. He shows us the path to the pure world; He becomes our Guide and takes us back home. Truly, destruction is just ahead. It is the old world that is to be destroyed. Calamities etc. take place in the old world. Baba is so sweet! He becomes the Stick for the Blind. People continue to stumble around in extreme darkness. It is said: The day of Brahma and the night of Brahma. Brahma exists here. The Father comes to change night into day. For half the cycle it is the night and for half the cycle it is the day. You now understand it. People believe that the iron age is still in its infancy. Sometimes it is said: This world is to be destroyed, but they don’t understand anything. Nowadays, scarcely anyone leaves his home. For some reason or other, they leave their homes and become sannyasis. The Government issued an ordinance some time ago saying that even sannyasis should have a licence. It shouldn’t be that anyone who sulks with his family can go and become a sannyasi. In that case, he would receive a lot of things for nothing. That is limited renunciation whereas yours is unlimited renunciation. At this time, the whole world is impure. It is the task of the one Purifier Father alone to make it pure. In the golden age there used to be the pure household religion. There are still images of Lakshmi and Narayan. People sing praise of the deities: You are full of all virtues. Theirs ( sannyasis) is hatha yoga, renunciation of karma. However, there cannot be renunciation of karma. Human beings cannot stay without performing action for even a second. The expression ‘renunciation of karma’ is wrong. This is karma yoga and Raja Yoga. You were sun-dynasty deities. You know that you have to take 84 births. They also speak of the castes. No one knows about the Brahmin caste. The Father gives you children the great mantra: Continue to remember the Father and your inheritance and you will receive the tilak of the kingdom. Sweetest, beloved children, while living at home with your families, live like a lotus flower. You are not able to achieve as much with anger as you are with love. Become very sweet. Constantly continue to smile in remembrance of the Father. Look at the pictures of the deities. They are so cheerful. You now know that we were those. We were deities and then we became warriors, merchants and shudras. Now, at the confluence age, we have become the mouth-born creation of Brahma. The mouth-born creation of Brahma is God’s clan. You receive the Father’s inheritance of liberation and liberation-in-life. You know that when it was the kingdom of deities, there were no other religions at that time. Even the moon dynasty didn’t exist then. This is something to be understood. They have understood the meaning of ‘hum so’ to be: The soul is the Supreme Soul. You now know that we are once again becoming deities and then warriors. It is the soul that says: When I, the soul, was pure, I had a pure body. That is the viceless world whereas this is the vicious world. There are the land of sorrow, the land of happiness and the land of peace where all we souls reside. They say: All of us Chinese and Hindus are brothers, but they should also understand the meaning of that. Today they say that they are brothers, and tomorrow they would shoot one another. All souls are brothers. By calling God omnipresent, all become the Father. The Father has to give the inheritance whereas the brothers are to receive the inheritance. There is the difference of day and night. He is the Purifier, is He not? You have to become pure through Him. We want to change from human beings into deities. It is mentioned in the Granth: It didn’t take God long to change human beings into deities. It is also remembered: Liberation-in-life in a second. We souls were liberated in life and we are now in a life of bondage. Ravan’s kingdom begins with the copper age when the deities go onto the path of sin. They also have signs of that. They have very dirty images of the deities at Jagadnathpuri. Previously, you didn’t understand any of that, but you now understand so much. You used to wonder how there could be such dirty images of the deities there. Inside, they have dark images of Jagadnath. At Shrinath Dware, too, they have dark images. No one knows why they have shown dark images of Jagadnath. They say of Krishna that he was bitten by a snake. What happened to Rama? They show an ugly image of Narayan too. They also have a Shivalingam of black stone. They show everyone ugly. As is their vision, so is their world. At this time, all are impure and ugly and so they have shown God ugly too. At first, they used to worship Shiva by creating a lingam of diamonds. Now all of those things have disappeared. These are most valuable things. Antique things are given so much value. It is now 2,500 years since worship began. Therefore, they must be that old, no more than that. The most ancient images are those of the deities. They say that they are hundreds of thousands of years old. You now know that 5000 years ago Bharat became heaven and that it is now the iron age. Destruction is just ahead; everyone has to go back. Only the Father takes everyone back. You became Brahmins through Brahma and then you will carry out sustenance there as deities. These things are not mentioned in the Bhagawad Gita. The Father says: This knowledge disappears. Lakshmi and Narayan are not trikaldarshi and so how could this knowledge have continued from time immemorial? At this time you are trikaldarshi. You do the best service at this time. So, you are true, spiritual social workers. You are now becoming soul conscious. How can the alloy that is in the soul be removed? The Father is also the Jeweller. When the alloy of iron was mixed into the gold, the soul became impure. So, how can the soul now become pure? The Father says: O soul, constantly remember Me alone. The Purifier Father gives you shrimat. God speaks: O souls, you have alloy mixed in you. You are now impure. A great soul (mahatma) cannot be impure. There is just one method: Constantly remember Me alone. Your sins will be absolved with this fire of yoga.

[wp_ad_camp_5]

 

There are so many ashrams. They have put up so many pictures of different types of hatha yoga. This is the bhatthi (furnace) of yoga or remembrance. You may live at home with your family and prepare food etc. and look after your children, but you do have time in the morning. It is said: O mind of mine, remember Rama early in the morning! The intellect is in the soul. They perform devotion early in the morning. You too wake up early in the morning and remember the Father and have your sins absolved. All the rubbish will be removed and you souls will become pure. You will then also receive pure bodies. You souls now don’t even have two carats left! There has to be the account of the 84 births of the deities of Bharat. The world history and geography are now being repeated. However, no one knows what its duration is. They don’t even know the duration of the cycle. The Father says: I have come to give you shrimat and to make you elevated. Only through the fire of remembrance will the alloy be removed. There is no other method. You children have to be courageous. Don’t be afraid. Why should children whose Father is God, the Protector, Himself, be afraid of anything? What curse can anyone give you? None at all! Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Do everything you have to do with love, not with anger. Remain constantly cheerful by remembering the Father. Constantly continue to smile like the deities.
  2. Through the fire of remembrance remove the alloy mixed in the soul. Have your sins absolved. Become courageous and do service. Don’t be afraid.
Blessing: May you make your stage free from any sinful thoughts by stopping the intense flow of waste thoughts in a second and thereby become greatly fortunate.
When you make a mistake, then after making that mistake, do not waste your time in “Why? What? How? Not like that, but like this” etc. For the amount of time you spend in thinking about it, you put that many stains on top of stains. The time of a test paper is short, but the sanskar of waste thoughts increases the time of that paper. So, stop the intense flow of waste thoughts in a second with the power of transformation and your stage will become free from any sinful thoughts. When this sanskar emerges, you will then be said to be a fortunate soul.
Slogan: Become full of the treasure of happiness and all other treasures will automatically come.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

Read Bk Murli 16 August 2017 :- Click Here

Font Resize