17 september ki murli

TODAY MURLI 17 SEPTEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 17 September 2020

17/09/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to become the most elevated human beings at this elevated confluence age. The most elevated human beings are Lakshmi and Narayan.
Question: Which incognito task are you children carrying out with the Father?
Answer: Establishment of the original eternal deity religion and the deity kingdom. You are carrying out this task with the Father in an incognito way. The Father is the Lord of the Garden who is changing the forest of thorns into the garden of flowers. There’s nothing fearsome in that garden which could cause sorrow.
Song: At last the day for which we had been waiting has come.

Om shanti. The spiritual Father sits here and explains to the spiritual children. He definitely has to explain through a body. A soul cannot perform any task without a body. Only once, at this elevated confluence age, does the spiritual Father take a body. This confluence age is also called the most elevated age because, after this confluence age, the golden age comes; the golden age is also called a most elevated age. The Father comes and establishes that most elevated age. He comes at the confluence age. Therefore, this age is called the most elevated age. It is here that He makes you children the most elevated. Then you go and stay in the most elevated new world. “Most elevated” means the highest-on-high human beings, who are Radhe and Krishna or Lakshmi and Narayan. Only you have this knowledge. People of other religions will also agree that they definitely are the masters of heaven. Bharat is praised a great deal. However, the people of Bharat, don’t know this themselves. They say that so-and-so became a resident of heaven, but they don’t understand what heaven is. They themselves say that so-and-so has gone to heaven, which proves that he must have been in hell before. Heaven will come when the Father establishes it. Only the new world is called this. There are the two things: heaven and hell. People say that heaven exists for hundreds of thousands of years. You children understand that it was heaven yesterday, that it was their kingdom (Lakshmi and Narayan) and that you are once again claiming your inheritance from the Father. The Father says: Sweet, beloved children, it is because you souls are impure that you are in hell. It is also said that the iron age still has 40,000 years left. Therefore, they definitely would be called residents of the iron age. This world is old. Human beings are in the depths of darkness. At the end, when there is fire, all of this will finish. You have loving intellects, numberwise, according to the efforts you make. According to how loving your intellect is, you will claim a high status to that extent. Wake up early in the morning and remember the Father with a lot of love. You may even have tears of love. This is because it is after a very long time that the Father has come and met you. Baba, You come and liberate us from sorrow. We were floundering in the ocean of poison, and continued to become so unhappy! This is now the depths of hell. Baba has now told you the secrets of the whole cycle. He has come and also explained to you what the soul world is. Previously, you didn’t know this. This world is called the forest of thorns. Heaven is called the garden of Allah, the garden of flowers. The Father is also called the Lord of the Garden. Who makes you flowers into thorns again? Ravan. You children understand that Bharat was a garden of flowers; it is now a forest. Animals and scorpions etc. live in a forest. There are no fearsome animals in the golden age. They have written so many things in the scriptures, such as that Krishna was bitten by a snake, that this happened and that happened. They have portrayed Krishna in the copper age. The Father has explained that devotion is completely different from knowledge. Only the one Father is the Ocean of Knowledge. It isn’t that Brahma, Vishnu and Shankar are oceans of knowledge; no. Only the one Ocean of Knowledge is called the Purifier. It is only through knowledge that human beings receive salvation. There are two places of salvation: the land of liberation and the land of liberation-in-life. You children know that a kingdom is now being established. However, this is incognito. The Father, Himself, comes to establish the original, eternal, deity religion. All others come in their own human costumes. The Father doesn’t have a costume of His own. This is why He is called incorporeal God, the Father. Everyone else is physical. He is called incorporeal God,the Father of incorporeal souls. You souls live there and the Father also lives there. However, He is incognito. The Father comes Himself and establishes the original, eternal, deity religion. There is no sorrow in the soul world. The Father says: Your benefit lies in just one thing: Remembrance of the Father! Manmanabhav, that’s all! It is understood when someone has become a child of the Father, that the child will receive the inheritance. To remember Alpha means to receive the inheritance of the golden-aged, new world. This impure world definitely has to be destroyed. We definitely have to go to the land of immortality. The Lord of Immortality is telling the story of immortality to you Parvatis. So many people go on pilgrimages! So many go to Amarnath! There is nothing there. All of that is deception; there isn’t even a grain of truth. It is sung: The body is false, Maya is false and the whole world is false. There has to be a meaning to that. There is only falsehood here. This too is an aspect of knowledge. It isn’t a lie to call a glass a glass. On the path of devotion, they tell lies about the Father. Only the one Father speaks the truth. You know that Baba has now come and is telling you the true story of becoming true Narayan. Artificial diamonds and pearls also exist. These days there is a lot of show of artificial things. Their sparkle is such that they look even better than the real thing! These artificial stones didn’t exist here previously; they came here recently from abroad. When the artificial and the real are mixed together, you can’t tell them apart. Instruments have been invented with which you can recognise them. Artificial pearls have been invented so that you just can’t tell them apart. You children no longer have any doubts. Those with doubts don’t come back again. So many come to the exhibitions. The Father says: Now open big shops. Yours is the only true shop. You open the true shop. The very big sannyasis have very big shops where important people go. You can also open big centres. The expansion of devotion is completely separate from knowledge. It isn’t said that devotion has been continuing from the beginning of time; no. Through knowledge there is liberation, or day. There, you were completely viceless, the masters of the world. Human beings don’t even know that this Lakshmi and Narayan were the masters of the world. There were only the sun dynasty and the moon dynasty; there were no other religions. You children heard the song. Do you understand that that day of the confluence age has finally come when we come to meet our unlimited Father? We are making effort to claim our unlimited inheritance. In the golden age you don’t say: At last the day has come. People here make plans for a lot of grain and other things. They believe that they are the ones who are establishing heaven. They believe that students are the new blood and that they will help a great deal. This is why the Government works hard on them. However, it is the students who then throw stones etc. It is the students who are the leaders in causing chaos. They are very clever; they are called those with new blood. There is no question of new blood. Theirs is a blood connection and yours is now a spiritual connection. You say: Baba, I am Your two month-old child. Some children celebrate their spiritual birthday. It is the Godly birthday that should be celebrated. Your physical birthdays should be cancelled. We will only feed Brahmins. It is this that should be celebrated. That is an impure birth, whereas this is your Godly birth; there is the difference of day and night. However, this happens when there is faith. It shouldn’t be that you celebrate your Godly birthday and that you then go back to your impure birth again. That also happens. They had continued to celebrate their Godly birthdays and then they disappeared. These days, they celebrate their wedding anniversaries. They think that weddings are auspicious occasions. They even celebrate the day of going into degradation. It is a wonder, is it not? The Father sits here and explains all of these things. You must only celebrate your Godly birthday with Brahmins. We are Shiv Baba’s children. When we celebrate a birthday, we only remember Shiv Baba. The children whose intellects have faith should celebrate their birthdays, so that they forget their impure births. Baba also gives this advice. This is only when your intellects have firm faith. We belong to Baba and none other, that’s all! Then, at the end, we will reach our destination. If you die in remembrance of the Father, the next birth you take will be according to that. Otherwise, those who remember their wives at the end… This is also mentioned in the Granth. It is said: Let there be the water of the Ganges in your mouth at the end. All of those things belong to the path of devotion. The Father says to you: Even while leaving your body, spin the discus of self-realisation. Keep the Father and the cycle in your intellects. It is definitely by continuing to make effort now that you will have that remembrance at the end. Consider yourselves to be souls and remember the Father because you children now have to return home bodiless. While playing your parts here, you have become tamopradhan from satopradhan. You now have to become satopradhan once again. At this time, you souls are impure, so how can you receive pure bodies? Baba has given you many examples; after all, he is a jeweller. Impurity is not mixed into thejewellery; it is mixed into the gold. If you want to make 24 carat gold into 22 carat gold, you mix silver into it. There is now no gold! They continue to take it from everyone. Look at the kind of banknotesthey make these days. There isn’t even enough paper. You children understand that this has been happening for cycle after cycle. Everyone is fully investigated. People are made to open their lockers etc. Full checks are made. It is said: The wealth of some will be buried, the wealth of others will be looted by the Government. Fierce fires will also break out. You children know that all of that is going to happen. This is why you are preparing your bags and baggage for the future. Other people don’t know this. Only you receive the inheritance for 21 births. It is with your money that Bharat is being made into heaven. You yourselves will then reside there. You children claim your tilaks of sovereignty through your own efforts. Baba, the Lord of the Poor, has come to make you into the masters of heaven. However, you become those according to how much you study. It doesn’t happen through mercy or blessings. It is a teacher’s duty to teach. It is not a matter of mercy. Teachers receive a salary from the Government. Therefore, they will definitely teach. You receive such a big reward; you become multimillion times fortunate. They show the symbol of a lotus at Krishna’s feet. You have come here to become future millionaires. You become very happy, wealthy and immortal. You gain victory over death. Human beings cannot understand these things. When your lifespan is over you become immortal. They have created images of the Pandavas showing them to be big and tall. They believe that the Pandavas were very tall. You are those Pandavas. The difference is that of day and night! People are not that tall. They are only six feet tall. On the path of devotion there is first the devotion of Shiv Baba. They can’t build a big image of Him, can they? First, there is the unadulterated devotion of Shiv Baba. Then they carve statues of the deities and they make very big idols of them. They make big images of the Pandavas. They make those idols so they can worship them. The worship of Lakshmi takes place once every twelve months. The worship of Jagadamba (the World Mother) takes place every day. Baba has also explained: You are doubly worshipped. I am worshipped just as the Soul or the lingam (the oval image). You are worshipped in the form of saligrams and also as deities. When they hold a sacrificial fire of Rudra they have so many saligrams created. So, who is greater? This is why Baba says “Namaste” to you children. He enables you to attain such an elevated status! Baba tells you such deep things. Therefore, you children should have so much happiness! God is teaching us to make us into gods and goddesses! We should thank Him so much! By staying in remembrance of the Father you will have good dreams and you will also have visions. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Celebrate your Godly, spiritual birthday and maintain your spiritual connection, not a blood connectionCancel your physical, impure birthday. It should not even be remembered.
  2. Prepare your bags and baggage for the future. Use your wealth in a worthwhile way to serve Bharat and make it into heaven. Give yourself your tilak of sovereignty with your own efforts.
Blessing: May you put on the switch of awareness and experience the bodiless stage in a second with your loving intellect.
Where there is love for God, becoming bodiless is likea game of a second. Darkness is dispelled as soon as you put on a light switch. In the same way, when you have a loving intellect and you put on the switch of awareness, the switch of awareness of the body and the physical world is switched off. This is a game of a second. It takes time to say, “Baba, Baba” with your mouth, but it doesn’t take any time to bring Baba into your awareness. The word “Baba” is the soul-conscious bomb with which you forget the old world.
Slogan: Remain beyond the mud of body consciousness and you will become a double-light angel.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 17 SEPTEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 17 September 2020

Murli Pdf for Print : – 

17-09-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
”मीठे बच्चे – तुम्हें इस पुरूषोत्तम संगमयुग पर ही उत्तम से उत्तम पुरुष बनना है, सबसे उत्तम पुरुष हैं यह लक्ष्मी-नारायण”
प्रश्नः- तुम बच्चे बाप के साथ-साथ कौन-सा एक गुप्त कार्य कर रहे हो?
उत्तर:- आदि सनातन देवी-देवता धर्म और दैवी राजधानी की स्थापना – तुम बाप के साथ गुप्त रूप से यह कार्य कर रहे हो। बाप बागवान है जो आकर कांटों के जंगल को फूलों का बगीचा बना रहे हैं। उस बगीचे में कोई भी ख़ौफनाक दु:ख देने वाली चीज़ें होती नहीं।
गीत:- आखिर वह दिन आया आज……..

ओम् शान्ति। रूहानी बाप बैठ रूहानी बच्चों को समझाते हैं। समझायेंगे तो जरूर शरीर द्वारा। आत्मा शरीर बिगर कोई भी कार्य कर नहीं सकती। रूहानी बाप को भी एक ही बार पुरूषोत्तम संगमयुग पर शरीर लेना पड़ता है। यह संगमयुग भी है, इनको पुरूषोत्तम युग भी कहेंगे क्योंकि इस संगमयुग के बाद फिर सतयुग आता है। सतयुग को भी पुरूषोत्तम युग कहेंगे। बाप आकर स्थापना भी पुरूषोत्तम युग की करते हैं। संगमयुग पर आते हैं तो जरूर वह भी पुरूषोत्तम युग हुआ। यहाँ ही बच्चों को पुरूषोत्तम बनाते हैं। फिर तुम पुरूषोत्तम नई दुनिया में रहते हो। पुरूषोत्तम अर्थात् उत्तम ते उत्तम पुरूष यह राधे-कृष्ण अथवा लक्ष्मी-नारायण हैं। यह ज्ञान भी तुमको है। और धर्म वाले भी मानेंगे बरोबर यह हेविन के मालिक हैं। भारत की बड़ी भारी महिमा है। परन्तु भारतवासी खुद नहीं जानते। कहते भी हैं ना-फलाना स्वर्गवासी हुआ परन्तु स्वर्ग क्या चीज़ है, यह समझते नहीं। आपेही सिद्ध करते हैं स्वर्ग गया, इसका मतलब नर्क में था। हेविन तो जब बाप स्थापन करे। वह तो नई दुनिया को ही कहा जाता है। दो चीज़ें हैं ना – स्वर्ग और नर्क। मनुष्य तो स्वर्ग को लाखों वर्ष कह देते हैं। तुम बच्चे समझते हो कल स्वर्ग था, इन्हों की राजाई थी फिर बाप से वर्सा ले रहे हो।

बाप कहते हैं – मीठे लाडले बच्चे, तुम्हारी आत्मा पतित है इसलिए हेल में ही है। कहते भी हैं अभी कलियुग के 40 हज़ार वर्ष बाकी हैं, तो जरूर कलियुग वासी कहेंगे ना। पुरानी दुनिया तो है ना। मनुष्य बिचारे घोर अन्धियारे में हैं। पिछाड़ी में जब आग लगेगी तो यह सब खत्म हो जायेंगे। तुम्हारी प्रीत बुद्धि है, नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार। जितना प्रीत बुद्धि होगी उतना ऊंच पद पायेंगे। सवेरे उठकर बहुत प्यार से बाप को याद करना है। भल प्रेम के आंसू भी आयें क्योंकि बहुत समय के बाद बाप आकर मिले हैं। बाबा आप आकर हमको दु:ख से छुड़ाते हो। हम विषय सागर में गोते खाते कितना दु:खी होते आये हैं। अभी यह है रौरव नर्क। अभी तुमको बाबा ने सारे चक्र का राज़ समझाया है। मूलवतन क्या है – वह भी आकर बताया है। पहले तुम नहीं जानते थे, इसको कहते ही हैं कांटों का जंगल। स्वर्ग को कहा जाता है गार्डन आफ अल्लाह, फूलों का बगीचा। बाप को बागवान भी कहते हैं ना। तुमको फूल से फिर कांटा कौन बनाते हैं? रावण। तुम बच्चे समझते हो भारत फूलों का बगीचा था, अब जंगल है। जंगल में जानवर, बिच्छू आदि रहते हैं। सतयुग में कोई ख़ौफनाक जानवर आदि होते नहीं। शास्त्रों में तो बहुत बातें लिख दी हैं। कृष्ण को सर्प ने डसा, यह हुआ। कृष्ण को फिर द्वापर में ले गये हैं। बाप ने समझाया है भक्ति बिल्कुल अलग चीज़ है, ज्ञान सागर एक ही बाप है। ऐसे नहीं कि ब्रह्मा-विष्णु-शंकर ज्ञान के सागर हैं। नहीं, पतित-पावन एक ही ज्ञान सागर को कहेंगे। ज्ञान से ही मनुष्य की सद्गति होती है। सद्गति के स्थान हैं दो – मुक्तिधाम और जीवनमुक्तिधाम। अभी तुम बच्चे जानते हो यह राजधानी स्थापन हो रही है, परन्तु गुप्त। बाप ही आकर आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना करते हैं, तो सब अपने-अपने मनुष्य चोले में आते हैं। बाप को अपना चोला तो है नहीं, इसलिए इनको निराकार गॉड फादर कहा जाता है। बाकी सब हैं साकारी। इनको कहा जाता है इनकारपोरियल गॉड फादर, इनकारपोरियल आत्माओं का। तुम आत्मायें भी वहाँ रहती हो। बाप भी वहाँ रहते हैं। परन्तु है गुप्त। बाप ही आकर आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना करते हैं। मूलवतन में कोई दु:ख नहीं। बाप कहते हैं तुम्हारा कल्याण है ही एक बात में – बाप को याद करो, मनमनाभव। बस, बाप का बच्चा बना, बच्चे को वर्सा अन्डरस्टुड है। अल्फ को याद किया तो वर्सा जरूर है – सतयुगी नई दुनिया का। इस पतित दुनिया का विनाश भी ज़रूर होना ही है। अमरपुरी में जाना ही है। अमरनाथ तुम पार्वतियों को अमर-कथा सुना रहे हैं। तीर्थो पर कितने मनुष्य जाते हैं, अमरनाथ पर कितने जाते हैं। वहाँ है कुछ भी नहीं। सब है ठगी। सच की रत्ती भी नहीं। गाया भी जाता है झूठी काया झूठी माया… इसका भी अर्थ होना चाहिए। यहाँ है ही झूठ। यह भी ज्ञान की बात है। ऐसे नहीं कि ग्लास को ग्लास कहना झूठ है। बाकी बाप के बारे जो कुछ बोलते हैं वह झूठ बोलते हैं। सच बोलने वाला एक ही बाप है। अभी तुम जानते हो बाबा आकर सच्ची-सच्ची सत्य नारायण की कथा सुनाते हैं। झूठे हीरे-मोती भी होते हैं ना। आजकल झूठ का बहुत शो है। उनकी चमक ऐसी होती है सच्चे से भी अच्छे। यह झूठे पत्थर पहले नहीं थे। पिछाड़ी में विलायत से आये हैं। झूठे सच्चे साथ मिला देते हैं, पता नहीं पड़ता है। फिर ऐसी चीज़ें भी निकली जिससे परखते हैं। मोती भी ऐसे झूठे निकले जो ज़रा भी पता नहीं पड़ सकता। अभी तुम बच्चों को कोई संशय नहीं रहता। संशय वाले फिर आते ही नहीं। प्रदर्शनी में कितने ढेर आते हैं। बाप कहते हैं अब बड़े-बड़े दुकान निकालो, यह एक ही तुम्हारा सच्चा दुकान है। तुम सच्ची दुकान खोलते हो। बड़े-बड़े सन्यासियों के बड़े-बड़े दुकान होते हैं, जहाँ बड़े-बड़े मनुष्य जाते हैं। तुम भी बड़े-बड़े सेन्टर खोलो। भक्ति मार्ग की सामग्री बिल्कुल अलग है। ऐसे नहीं कहेंगे कि भक्ति शुरू से ही चली आई है। नहीं। ज्ञान से होती है सद्गति अर्थात् दिन। वहाँ सम्पूर्ण निर्विकारी विश्व के मालिक थे। मनुष्यों को यह भी पता नहीं कि यह लक्ष्मी-नारायण विश्व के मालिक थे। सूर्यवंशी और चन्द्रवंशी, और कोई धर्म होता नहीं। बच्चों ने गीत भी सुना। तुम समझते हो आखिर वह दिन आया आज संगम का, जो हम आकर अपने बेहद के बाप से मिले। बेहद का वर्सा पाने लिए पुरूषार्थ करते हैं। सतयुग में तो ऐसे नहीं कहेंगे-आखिर वह दिन आया आज। वो लोग समझते हैं-बहुत अनाज होगा, यह होगा। समझते हैं स्वर्ग की स्थापना हम करते हैं। समझते हैं स्टूडेन्ट का नया ब्लड है, यह बहुत मदद करेंगे इसलिए गवर्मेन्ट बहुत मेहनत करती है उन्हों पर। और फिर पत्थर आदि भी वही मारते हैं। हंगामा मचाने में पहले-पहले स्टूडेन्ट ही आगे रहते हैं। वह बड़े होशियार होते हैं। उनका न्यु ब्लड कहते हैं। अब न्यु ब्लड की तो बात नहीं। वह है ब्लड कनेक्शन, अभी तुम्हारा यह है रूहानी कनेक्शन। कहते हैं ना बाबा हम आपका दो मास का बच्चा हूँ। कई बच्चे रूहानी बर्थ डे मनाते हैं। ईश्वरीय बर्थ डे ही मनाना चाहिए। वह जिस्मानी बर्थ डे कैन्सिल कर देना चाहिए। हम ब्राह्मणों को ही खिलायेंगे। मनाना तो यह चाहिए ना। वह है आसुरी जन्म, यह है ईश्वरीय जन्म। रात-दिन का फ़र्क है, परन्तु जब निश्चय में बैठे। ऐसे नहीं, ईश्वरीय जन्म मनाकर फिर जाए आसुरी जन्म में पड़े। ऐसा भी होता है। ईश्वरीय जन्म मनाते-मनाते फिर रफू-चक्कर हो जाते हैं। आजकल तो मैरेज डे भी मनाते हैं, शादी को जैसे कि अच्छा शुभ कार्य समझते हैं। जहन्नुम में जाने का भी दिन मनाते हैं। वन्डर है ना। बाप बैठ यह सब बातें समझाते हैं। अब तुमको तो ईश्वरीय बर्थ डे ब्राह्मणों के साथ ही मनाना है। हम शिवबाबा के बच्चे हैं, हम बर्थ डे मनाते हैं तो शिवबाबा की ही याद रहेगी। जो बच्चे निश्चयबुद्धि हैं उनको जन्म दिन मनाना चाहिए। वह आसुरी जन्म ही भूल जाए। यह भी बाबा राय देते हैं। अगर पक्का निश्चय बुद्धि है तो। बस हम तो बाबा के बन गये, दूसरा न कोई फिर अन्त मती सो गति हो जायेगी। बाप की याद में मरा तो दूसरा जन्म भी ऐसा मिलेगा। नहीं तो अन्तकाल जो स्त्री सिमरे…….. यह भी ग्रन्थ में है। यहाँ फिर कहते हैं अन्त समय गंगा का तट हो। यह सब है भक्ति मार्ग की बातें। तुमको बाप कहते हैं शरीर छूटे तो भी स्वदर्शन चक्रधारी हो। बुद्धि में बाप और चक्र याद हो। सो जरूर जब पुरूषार्थ करते रहेंगे तब तो अन्तकाल याद आयेगी। अपने को आत्मा समझो और बाप को याद करो क्योंकि तुम बच्चों को अब वापिस जाना है अशरीरी होकर। यहाँ पार्ट बजाते-बजाते सतोप्रधान से तमोप्रधान बने हो। अब फिर सतोप्रधान बनना है। इस समय आत्मा ही इमप्योर है, तो शरीर प्योर फिर कैसे मिल सकेगा? बाबा ने बहुत मिसाल समझाये हैं फिर भी जौहरी है ना। खाद जेवर में नहीं, सोने में पड़ती है। 24 कैरेट से 22 कैरेट बनाना होगा तो चांदी डालेंगे। अभी तो सोना है नहीं। सबसे लेते रहते हैं। आजकल नोट भी देखो कैसे बनाते हैं। कागज़ भी नहीं है। बच्चे समझते हैं कल्प-कल्प ऐसा होता आया है। पूरी जांच रखते हैं। लॉकर्स आदि खुलाते हैं। जैसे किसकी तलाशी आदि ली जाती है ना। गायन भी है-किनकी दबी रही धूल में…….. आग भी जोर से लगती है। तुम बच्चे जानते हो यह सब होना है इसलिए बैग-बैगेज तुम भविष्य के लिए तैयार कर रहे हो। और कोई को मालूम थोड़ेही है, तुमको ही वर्सा मिलता है 21 जन्म लिए। तुम्हारे ही पैसे से भारत को स्वर्ग बना रहे हैं, जिसमें फिर तुम ही निवास करेंगे।

तुम बच्चे अपने ही पुरूषार्थ से आपेही राजतिलक लेते हो। गरीब निवाज़ बाबा स्वर्ग का मालिक बनाने आये हैं लेकिन बनेंगे तो अपनी पढ़ाई से। कृपा या आशीर्वाद से नहीं। टीचर का तो पढ़ाना धर्म है। कृपा की बात नहीं। टीचर को गवर्मेन्ट से पगार मिलती है। सो तो जरूर पढ़ायेंगे। इतना बड़ा इज़ाफा मिलता है। पद्मापद्मपति बनते हो। कृष्ण के पांव में पद्म की निशानी देते हैं। तुम यहाँ आये हो भविष्य में पद्मपति बनने। तुम बहुत सुखी, साहूकार, अमर बनते हो। काल पर विजय पाते हो। इन बातों को मनुष्य समझ न सके। तुम्हारी आयु पूरी हो जाती है, अमर बन जाते हो। उन्होंने फिर पाण्डवों के चित्र लम्बे-चौड़े बना दिये हैं। समझते हैं पाण्डव इतने लम्बे थे। अब पाण्डव तो तुम हो। कितना रात-दिन का फ़र्क है। मनुष्य कोई जास्ती लम्बा तो होता नहीं। 6 फुट का ही होता है। भक्ति मार्ग में पहले-पहले शिवबाबा की भक्ति होती है। वह तो बड़ा बनायेंगे नहीं। पहले शिवबाबा की अव्यभिचारी भक्ति चलती है। फिर देवताओं की मूर्तियां बनाते हैं। उनके फिर बड़े-बड़े चित्र बनाते हैं। फिर पाण्डवों के बड़े-बड़े चित्र बनाते हैं। यह सब पूजा के लिए चित्र बनाते हैं। लक्ष्मी की पूजा 12 मास में एक बार करते हैं। जगत अम्बा की पूजा रोज़ करते रहते हैं। यह भी बाबा ने समझाया है तुम्हारी डबल पूजा होती है। मेरी तो सिर्फ आत्मा यानी लिंग की ही होती है। तुम्हारी सालिग्राम के रूप में भी पूजा होती है और फिर देवताओं के रूप में भी पूजा होती है। रूद्र यज्ञ रचते हैं तो कितने सालिग्राम बनाते हैं तो कौन बड़ा हुआ? तब बाबा बच्चों को नमस्ते करते हैं। कितना ऊंच पद प्राप्त कराते हैं।

बाबा कितनी गुह्य-गुह्य बातें सुनाते हैं, तो बच्चों को कितनी खुशी होनी चाहिए। हमको भगवान पढ़ाते हैं भगवान-भगवती बनाने के लिए। कितना शुक्रिया मानना चाहिए। बाप की याद में रहने से स्वप्न भी अच्छे आयेंगे। साक्षात्कार भी होगा। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपना ईश्वरीय रूहानी बर्थ डे मनाना है, रूहानी कनेक्शन रखना है, ब्लड कनेक्शन नहीं। आसुरी जिस्मानी बर्थ डे भी कैन्सिल। वह फिर याद भी न आये।

2) अपना बैग बैगेज भविष्य के लिए तैयार करना है। अपने पैसे भारत को स्वर्ग बनाने की सेवा में सफल करने हैं। अपने पुरूषार्थ से अपने को राजतिलक देना है।

वरदान:- स्मृति का स्विच ऑन कर सेकण्ड में अशरीरी स्थिति का अनुभव करने वाले प्रीत बुद्धि भव
जहाँ प्रभू प्रीत है वहाँ अशरीरी बनना एक सेकण्ड के खेल के समान है। जैसे स्विच ऑन करते ही अंधकार समाप्त हो जाता है। ऐसे प्रीत बुद्धि बन स्मृति का स्विच ऑन करो तो देह और देह की दुनिया की स्मृति का स्विच ऑफ हो जायेगा। यह सेकण्ड का खेल है। मुख से बाबा कहने में भी टाइम लगता है लेकिन स्मृति में लाने में टाइम नहीं लगता। यह बाबा शब्द ही पुरानी दुनिया को भूलने का आत्मिक बाम्ब है।
स्लोगन:- देह भान की मिट्टी के बोझ से परे रहो तो डबल लाइट फरिश्ता बन जायेंगे।

TODAY MURLI 17 SEPTEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 17 September 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 16 September 2019:- Click Here

17/09/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, just as you have the faith that God is not omnipresent and that He is your Father, so you also have to explain this to others and instil this faith in them and then ask their opinions.
Question: What does the Father ask His children which no one else can ask?
Answer: When Baba meets you children, He asks: Children, have we met before? The children who understand this say at once, “Yes, Baba, we met You 5000 years ago.” Those who don’t understand become confused. No one else would have the sense to ask such a question. The Father alone explains to you the secrets of the whole cycle.

Om shanti. The unlimited spiritual Father speaks to you spiritual children. You are sitting here in front of the Father. You leave your homes with the thought that you are going to Shiv Baba who has entered the chariot of Brahma and is giving you the inheritance of heaven. We were in heaven and then, whilst going around the cycle of 84 births, we came down and fell into hell. This would not be in the intellect of anyone in any other spiritual gathering. You know that you are going to Shiv Baba who enters this chariot and teaches you. He has come to take us souls back with Him. We will definitely receive the unlimited inheritance from the unlimited Father. The Father has explained that He is not omnipresent; it is the five vices that are omnipresent. You too have the five vices in you and this is why you are greatly unhappy. You definitely have to get people to write the opinion that God is not omnipresent. You children have the firm faith that God, the Father, is not omnipresent. The Father is the Supreme Father, the Supreme Teacher and also the Guru. He is the unlimited Bestower of Salvation. He alone is the One who gives peace. Nowhere else people think about what they are to receive. They simply enjoy listening to the Ramayana, the Gita etc. They don’t have the meaning of anything in their intellects. Previously, we used to say that the Supreme Soul is omnipresent. The Father now explains that that was false. It is a matter of great defamation. So, this opinion is also very essential. Nowadays, those you ask to carry out an opening write that the Brahma Kumaris are doing very good work and that they give very good explanations, that they show you the way to attain God. This has a very good impact on people’s hearts. However, no one writes or gives the opinion that it is a great mistake when people in the world say that God is omnipresent. God is the Father, Teacher and Guru. This is the first main thing. Secondly, you need an opinion that says: Through this explanation, I can understand that the God of the Gita is not Krishna. No human being or deity can be called God. God is only one and He is the Father. It is only from that Father that we receive the inheritance of peace and happiness. You have to receive such opinions. The opinions that people write now are of no use. Yes, at least they write that they are given very good teachings here. However, get them to write the main thing in which you have to be victorious, that the Brahma Kumaris speak the truth when they say that God is not omnipresent. He is the Father; He alone is the God of the Gita. The Father comes and liberates you from the path of devotion and gives you knowledge. This opinion too is necessary: The Purifier is not the Ganges, the river of water, but the one Father. Only when people write such opinions will you become victorious. There is now still time. So much service is taking place, so much expense is being incurred, but that is because you children are helping one another. People outside don’t know anything at all. You use your bodies, minds and wealth whilst establishing your kingdom for yourselves. Those who do it will receive the return of it. Those who don’t do anything will not receive anything. Only you do this every cycle. Only you become those whose intellects have faith. You understand that the Father is the Father and the Teacher and that He speaks the knowledge of the Gita in an accurate way. Although people have been listening to the Gita on the path of devotion, they have not attained the kingdom. From Godly instructions, they became devilish directions. Their character became spoilt and they became impure. So many millions of people go to the Kumbha mela. They go wherever they see water because they believe that they will be purified by water. However, water everywhere comes from rivers. Can anyone become pure through that? Is it that, by bathing in water, we will become pure from impure and become deities? You now understand that no one can become pure by doing that. That too is a mistake. You should get people’s opinions on these three matters. At present, they just say that this organisation is good and so the misconceptions that people have – that the Brahma Kumaris have magic and that they abduct people – are removed because a lot of that sound has spread everywhere. That sound also went abroad. They said that this one needs 16,108 queens and that he has already found 400. That was because, at that time, there were 400 people who used to come to the spiritual gathering. Many people opposed us and they also did picketingetc., but no one was able to do anything in front of the Father. Everyone used to say: Where has this magician come from? Then, just look at the wonder! Baba was in Karachi. The whole group got themselves together and went running there. No one knew how those people ran away from their homes. They didn’t even think about where they would all stay. Then Baba immediately bought a bungalow. So, that was magic. Even now, people say that you people are magicians, that if anyone goes to the Brahma Kumaris, they will not come back again, that they make husbands and wives into brothers and sisters. Very many didn’t come. Now, when they see your exhibitions etc., whatever misconceptions they have in their intellects are removed. However, no one writes the opinion that Baba wants. Baba wants these opinions. They should write that Krishna is not the God of the Gita. The whole world thinks that it is God Krishna who speaks. However, Krishna takes the full 84 births whereas Shiv Baba is beyond rebirth. So, many people’s opinions are needed for this. There are so many people who listen to the Gita. Then, they should read in the newspapers that the God of the Gita is the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva. He alone is the Father, Teacher and Bestower of Salvation for All. It is only from Him that you receive the inheritance of peace and happiness. However, whatever effort you now make to have inaugurations carried out, you simply remove people’s misconceptions and they receive good explanations. However, they should write the opinions that Baba wants. That is the main opinion. However, those people simply advise others that this organisation is very good. What will happen through that? Yes, as you make further progress, when establishment and destruction come closer together, you will receive these opinions. They will understand everything and write them. At least they have now started to come to you. You have now received the knowledge that you are all children of the one Father and that you are all brothers. It is very easy to explain this to anyone. The Father of all souls is that Supreme Baba. You should definitely also receive a supreme unlimited status from Him. You received that 5000 years ago. Those people say that the duration of the iron age is hundreds of thousands of years. You say that the whole cycle is only 5000 years, and so there is so much difference. The Father explains: Five thousand years ago, there was peace in the world. This aim and objective is in front of you. There used to be peace in the world in their kingdom. We are once again establishing that kingdom. There was peace and happiness in the whole world; there was no mention of sorrow. Now, there is limitless sorrow. We are establishing this kingdom of peace and happiness with our own bodies, minds and wealth in an incognito way. The Father is incognito, the knowledge is incognito and your efforts are also incognito. This is why Baba doesn’t like songs and poetry etc. That belongs to the path of devotion. You have to remain silent here. You have to remember the Father whilst peacefully walking and moving around and also make your intellects spin the world cycle. This is now our final birth in this old world. We will then take the first birth in the new world. Souls definitely have to become pure. All souls are now impure. You souls have yoga with the Father in order to make yourselves pure. The Father Himself says: Children, renounce all bodily relations, including your bodies. The Father is preparing the new world. Remember Him and your sins will be cut away. Oh! How can you forget such a Father who gives you the sovereignty of the world? He says: Children, simply remain pure in this final birth. The destruction of this land of death is now in front of you. This destruction took place identically 5000 years ago. You remember this much. There was only your kingdom and there was no other religion. When anyone comes to Baba, I ask them: Have we met before? Those who have understood knowledge say straight away that they met Baba 5000 years ago. New ones who come become confused. Baba then understands that their teacher has not explained it to them. Then, I tell them: Think about this. They then remember. No one else can ask this question. They would not have the sense to ask it. What do they know of these things? As you progress further, many who belong to your clan will come and listen to you. The world definitely has to change. The secrets of the cycle have been explained to you. You now have to go to the new world. Forget this old world. The Father is building a new home and so your intellects go to that and there is no attachment to the old home. This, then, is an unlimited matter. The Father is establishing the new world of heaven. Therefore, see but do not see this old world. Let your attachment be to the new world and let there be disinterest in this old world. Those people in hatha yoga have limited renunciation and they go and sit in the forests. Your disinterest is in the whole of the old world. There is limitless sorrow here. In the golden-aged new world, there is an abundance of happiness, and so you would definitely remember that. Here, all are those who cause you sorrow. Parents etc. trap you in the vices. The Father says: Lust is the greatest enemy. By conquering it, you will become conquerors of the world. The Father teaches you this Raj Yoga through which you claim this status. Tell them: God told me in a dream: Become pure and you will receive the kingdom of heaven. So, for this one birth I will not become impure and lose the kingdom. All the quarrelling is because of this purity. Draupadi called out: Dushashan is making me impure! They perform a play in which Krishna gives 21 sarees to Draupadi. The Father sits here and explains how there is so much misfortune. There is limitless sorrow whereas there was limitless happiness in the golden age. I have now come to destroy all the irreligion and to establish the one true religion. I give you your fortune of the kingdom and I then depart into the stage of retirement. There will then be no need of Me for half the cycle. You will never even remember Me. Baba explains: The wrong vibrations that everyone has for you in their minds are now being put right. However, the main thing is to get people to write the opinion that God is not omnipresent. He came and taught Raj Yoga. The Father is also the Purifier. Rivers of water cannot purify anyone. There is water everywhere. The unlimited Father now says: Consider yourselves to be souls. Renounce your bodies and all bodily relations. It is the soul that sheds a body and takes another. They then say that souls are immune to the effect of action. To say that each soul is the Supreme Soul is something that’s heard on the path of devotion. Children say: Baba, how can we remember You? Oh! Don’t you consider yourself to be a soul? A soul is such a tiny point, and so his Father would also be just as tiny. He doesn’t enter rebirth. You have this knowledge in your intellects. Why would you not remember the Father? Remember the Father whilst walking and moving around. Achcha, you may consider the Father to have a big form, but at least remember just the One and then your sins will be cut away. There is no other way. Those who understand this say: Baba, by remembering you, we will become pure and become the masters of the pure world, so why would we not remember You? You have to remind one another so that your sins can be cut away. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Just as the Father and knowledge are incognito, so too, make incognito effort. Instead of singing songs and reading poems etc., remain silent. Remember the Father whilst walking and moving around in silence.
  2. The old world is changing and you must therefore remove your attachment from it. Do not see it whilst seeing it. Connect your intellect to the new world.
Blessing: May you be detached from the temptation of all material possessions and become a conqueror of matter who is free from temptation.
If any material possessions disturb any of your physical senses, that is, if feelings of temptation arise, you cannot then be detached. Desires are a form of temptation. Some say that they don’t have any desire (ichcha), but that they like (achcha) something. This too is a subtle temptation. Check this subtle form to see whether some material possession, that is, some means of temporary happiness is attracting you in any way. Material possessions are facilities of matter, and so when you become free from being tempted, that is, when you become detached, you will then be able to become a conqueror of matter.
Slogan: Let go of the jamela (chaotic situation) of “mine, mine” and stay in the unlimited and you will then be called a world benefactor.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 17 SEPTEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 17 September 2019

To Read Murli 16 September 2019:- Click Here
17-09-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – जैसे तुम्हें निश्चय है कि ईश्वर सर्वव्यापी नहीं, वह हमारा बाप है, ऐसे दूसरों को समझाकर निश्चय कराओ फिर उनसे ओपीनियन लो”
प्रश्नः- बाप अपने बच्चों से कौन सी बात पूछते हैं, जो दूसरा कोई नहीं पूछ सकता है?
उत्तर:- बाबा जब बच्चों से मिलते हैं तो पूछते हैं – बच्चे, पहले तुम कब मिले हो? जो बच्चे समझे हुए हैं वह झट कहते हैं – हाँ बाबा, हम 5 हज़ार वर्ष पहले आपसे मिले थे। जो नहीं समझते हैं, वह मूँझ जाते हैं। ऐसा प्रश्न पूछने का अक्ल दूसरे किसी को आयेगा भी नहीं। बाप ही तुम्हें सारे कल्प का राज़ समझाते हैं।

ओम् शान्ति। रूहानी बच्चों प्रति रूहानी बेहद का बाप समझाते हैं – यहाँ तुम बाप के सामने बैठे हो। घर से निकलते ही इस विचार से हो कि हम जाते हैं शिवबाबा के पास, जो ब्रह्मा के रथ में आकर हमको स्वर्ग का वर्सा दे रहे हैं। हम स्वर्ग में थे फिर 84 का चक्र लगाकर अभी नर्क में आकर पड़े हैं। और कोई भी सतसंग में किसकी बुद्धि में यह बातें नहीं होंगी। तुम जानते हो हम शिवबाबा के पास जाते हैं जो इस रथ में आकर पढ़ाते भी हैं। वो हम आत्माओं को साथ ले जाने आये हैं। बेहद के बाप से जरूर बेहद का वर्सा मिलना है। यह तो बाप ने समझाया है कि मैं सर्वव्यापी नहीं हूँ। सर्वव्यापक तो 5 विकार हैं। तुम्हारे में भी 5 विकार हैं इसलिए तुम महान दु:खी हुए हो। अब ईश्वर सर्वव्यापी नहीं है, यह ओपीनियन जरूर लिखवाना है। तुम बच्चों को तो पक्का निश्चय है कि ईश्वर बाप सर्वव्यापी नहीं है। बाप सुप्रीम बाप है, सुप्रीम टीचर, गुरू भी है। बेहद का सद्गति दाता है। वही शान्ति देने वाला है। और कोई जगह ऐसे ख्याल कोई नहीं करता है कि क्या मिलना है। सिर्फ कनरस – रामायण, गीता आदि जाकर सुनते हैं। बुद्धि में अर्थ कुछ नहीं। आगे हम परमात्मा सर्वव्यापी कहते थे। अब बाप समझाते हैं यह तो झूठ है। बड़ी ग्लानि की बात है। तो यह ओपीनियन भी बहुत जरूरी है। आजकल जिनसे तुम ओपनिंग आदि कराते हो, वह लिखते हैं ब्रह्माकुमारियां अच्छा काम करती हैं। बहुत अच्छी समझानी देती हैं। ईश्वर को प्राप्त करने का रास्ता बताती हैं, इससे लोगों के दिल पर सिर्फ अच्छा असर पड़ता है। बाकी यह ओपीनियन कोई भी नहीं लिखकर देते कि दुनिया भर में जो मनुष्य कहते हैं ईश्वर सर्वव्यापी है, यह बड़ी भूल है। ईश्वर तो बाप, टीचर, गुरू है। एक तो मुख्य बात है यह, दूसरा फिर ओपीनियन चाहिए कि इस समझानी से हम समझते हैं गीता का भगवान कृष्ण नहीं है। भगवान कोई मनुष्य या देवता को नहीं कहा जाता है। भगवान एक है, वह बाप है। उस बाप से ही शान्ति और सुख का वर्सा मिलता है। ऐसी-ऐसी ओपीनियन लेना है। अभी जो तुम ओपीनियन लेते हो वह कोई काम की नहीं लिखते हैं। हाँ, इतना लिखते हैं कि यहाँ शिक्षा बहुत अच्छी देते हैं। बाकी मुख्य बात जिसमें ही तुम्हारी विजय होनी है, वह लिखाओ कि यह ब्रह्माकुमारियां सत्य कहती हैं कि ईश्वर सर्वव्यापी नहीं है। वह तो बाप है, वही गीता का भगवान है। बाप आकर भक्ति मार्ग से छुड़ाए ज्ञान देते हैं। यह भी ओपीनियन जरूरी है कि पतित-पावनी पानी की गंगा नहीं, परन्तु एक बाप है। ऐसी-ऐसी ओपीनियन जब लिखें तब ही तुम्हारी विजय हो। अभी टाइम पड़ा है। अभी तुम्हारी जो सर्विस चलती है, इतना खर्चा होता है, यह तो तुम बच्चे ही एक-दो को मदद करते हो। बाहर वालों को तो कुछ पता ही नहीं। तुम ही अपने तन-मन-धन से खर्चा कर अपने लिए राजधानी स्थापन करते हो। जो करेगा वह पायेगा। जो नहीं करते वह पायेंगे भी नहीं। कल्प-कल्प तुम ही करते हो। तुम ही निश्चय बुद्धि होते हो। तुम समझते हो कि बाप, बाप भी है, टीचर भी है, गीता का ज्ञान भी यथार्थ रीति सुनाते हैं। भक्ति मार्ग में भल गीता सुनते आये परन्तु राज्य थोड़ेही प्राप्त किया है। ईश्वरीय मत से बदलकर आसुरी मत हो गई। कैरेक्टर बिगड़ते पतित बन पड़े। कुम्भ के मेले पर कितने मनुष्य करोड़ों की अन्दाज में जाते हैं। जहाँ-जहाँ पानी देखते, वहाँ जाते हैं। समझते हैं पानी से ही पावन होंगे। अब पानी तो जहाँ तहाँ नदियों से आता रहता है। इनसे कोई पावन बन सकता है क्या! क्या पानी में स्नान करने से हम पतित से पावन बन देवता बन जायेंगे। अभी तुम समझते हो कोई भी पावन बन न सके। यह है भूल। तो इन 3 बातों पर ओपीनियन लेना चाहिए। अभी सिर्फ कहते हैं संस्था अच्छी है, तो बहुतों के अन्दर जो भ्रान्तियां भरी हुई हैं कि ब्रह्माकुमारियों में जादू है, भगाती हैं – वह ख्यालात दूर हो जाते हैं क्योंकि आवाज़ तो बहुत फैला हुआ है ना। विलायत तक यह आवाज़ गया था कि इनको 16108 रानियां चाहिए, उनसे 400 मिल गई हैं क्योंकि उस समय सतसंग में 400 आते थे। बहुतों ने विरोध किया, पिकेटिंग आदि भी करते थे, परन्तु बाप के आगे तो कोई की चल न सके। सब कहते थे यह जादूगर फिर कहाँ से आया। फिर वन्डर देखो, बाबा तो कराची में था। आपेही सारा झुण्ड आपस में मिलकर भाग आया। कोई को पता नहीं पड़ा कि हमारे घर से कैसे भागे। यह भी ख्याल नहीं किया इतने सब कहाँ जाकर रहेंगे। फिर फट से बंगला ले लिया। तो जादू की बात हो गई ना। अभी भी कहते रहते हैं यह जादूगरनी हैं। ब्रह्माकुमारियों के पास जायेंगे तो फिर लौटेंगे नहीं। यह स्त्री-पुरूष को भाई-बहिन बनाती हैं फिर कितने तो आते ही नहीं हैं। अभी तुम्हारी प्रदर्शनी आदि देखकर वह जो बातें बुद्धि में बैठी हुई हैं, वह दूर होती हैं। बाकी बाबा जो ओपीनियन चाहते हैं, वह कोई नहीं लिखते। बाबा को वह ओपीनियन चाहिए। यह लिखें कि गीता का भगवान कृष्ण नहीं है। सारी दुनिया समझती है कृष्ण भगवानुवाच। परन्तु कृष्ण तो पूरे 84 जन्म लेते हैं। शिवबाबा है पुनर्जन्म रहित। तो इसमें बहुतों की ओपीनियन चाहिए। गीता सुनने वाले तो ढेर के ढेर हैं फिर देखेंगे यह तो अखबार में भी निकल पड़ा है गीता का भगवान परमपिता परमात्मा शिव है। वही बाप, टीचर, सर्व का सद्गति दाता है। शान्ति और सुख का वर्सा सिर्फ उनसे मिलता है। बाकी अभी तुम मेहनत करते हो, उद्घाटन कराते हो, सिर्फ मनुष्यों की भ्रान्तियां दूर होती हैं, समझानी अच्छी मिलती है। बाकी बाबा जैसे कहते हैं वह ओपीनियन लिखें। मुख्य ओपीनियन है यह। बाकी सिर्फ राय देते हैं – यह संस्था बहुत अच्छी है। इससे क्या होगा। हाँ, आगे चल जब विनाश और स्थापना नजदीक होगी तो तुमको यह ओपीनियन भी मिलेंगे। समझकर लिखेंगे। अभी तुम्हारे पास आने तो लगे हैं ना। अभी तुमको ज्ञान मिला है – एक बाप के बच्चे हम सब भाई-भाई हैं। यह किसी को भी समझाना तो बहुत सहज है। सब आत्माओं का बाप एक सुप्रीम बाबा है। उनसे जरूर सुप्रीम बेहद का पद भी मिलना चाहिए। सो 5 हज़ार वर्ष पहले तुमको मिला था। वो लोग कलियुग की आयु लाखों वर्ष कह देते हैं। तुम 5 हज़ार वर्ष कहते हो, कितना फर्क है।

बाप समझाते हैं 5 हज़ार वर्ष पहले विश्व में शान्ति थी। यह एम ऑब्जेक्ट सामने खड़ी है। इनके राज्य में विश्व में शान्ति थी। यह राजधानी हम फिर स्थापन कर रहे हैं। सारे विश्व में सुख-शान्ति थी। कोई दु:ख का नाम नहीं था। अभी तो अपार दु:ख हैं। हम यह सुख-शान्ति का राज्य स्थापन कर रहे हैं, अपने ही तन-मन-धन से गुप्त रीति। बाप भी गुप्त है, नॉलेज भी गुप्त है, तुम्हारा पुरूषार्थ भी गुप्त है, इसलिए बाबा गीत-कविताएं आदि भी पसन्द नहीं करते हैं। वह है भक्ति मार्ग। यहाँ तो चुप रहना है, शान्ति से चलते-फिरते बाप को याद करना है और सृष्टि चक्र बुद्धि में फिराना है। अभी हमारा यह अन्तिम जन्म है, पुरानी दुनिया में। फिर हम नई दुनिया में पहला जन्म लेंगे। आत्मा पवित्र जरूर चाहिए। अभी तो सब आत्मायें पतित हैं। तुम आत्मा को पवित्र बनाने के लिए बाप से योग लगाते हो। बाप खुद कहते हैं – बच्चे, देह सहित देह के सब सम्बन्ध छोड़ो। बाप नई दुनिया तैयार कर रहे हैं, उनको याद करो तो तुम्हारे पाप कट जाएं। अरे, बाप जो तुमको विश्व की बादशाही देते हैं, ऐसे बाप को तुम भूल कैसे जाते हो! वह कहते हैं – बच्चे, यह अन्तिम जन्म सिर्फ पवित्र बनो। अब इस मृत्युलोक का विनाश सामने खड़ा है। यह विनाश भी हूबहू 5 हज़ार वर्ष पहले ऐसे ही हुआ था। यह तो स्मृति में आता है ना। अपना राज्य था तो दूसरा कोई धर्म नहीं था। बाबा के पास कोई भी आता है तो उससे पूछता हूँ – आगे कब मिले हो? कोई तो जो समझे हुए हैं वह झट कह देते हैं 5 हज़ार वर्ष पहले। कोई नये आते हैं तो मूँझ पड़ते हैं। बाबा समझ जाते हैं कि ब्राह्मणी ने समझाया नहीं है। फिर कहता हूँ सोचो, तो स्मृति आती है। यह बात और तो कोई भी पूछ न सके। पूछने का अक्ल आयेगा ही नहीं। वह क्या जानें इन बातों से। आगे चलकर तुम्हारे पास बहुत आकर सुनेंगे, जो इस कुल के होंगे। दुनिया बदलनी तो जरूर है। चक्र का राज़ तो समझा दिया है। अब नई दुनिया में जाना है। इस पुरानी दुनिया को भूल जाओ। बाप नया मकान बनाते हैं तो बुद्धि उसमें चली जाती है। पुराने मकान में फिर ममत्व नहीं रहता है। यह फिर है बेहद की बात। बाप नई दुनिया स्वर्ग स्थापन कर रहे हैं इसलिए अब इस पुरानी दुनिया को देखते हुए भी नहीं देखो। ममत्व नई दुनिया में रहे। इस पुरानी दुनिया से वैराग्य। वह तो हठयोग से हद का सन्यास कर जंगल में जाकर बैठते हैं। तुम्हारा तो है सारी पुरानी दुनिया से वैराग्य, इसमें तो अथाह दु:ख हैं। नई सतयुगी दुनिया में अपार सुख हैं तो जरूर उनको याद करेंगे। यहाँ सब दु:ख देने वाले हैं। माँ-बाप आदि सब विकारों में फँसा देंगे। बाप कहते हैं काम महाशत्रु है, उनको जीतने से ही तुम जगतजीत बनेंगे। यह राजयोग बाप सिखलाते हैं, जिससे हम यह पद पाते हैं। बोलो, हमको स्वप्न में भगवान कहते हैं पावन बनो तो स्वर्ग की राजाई मिलेगी। तो अब मैं एक जन्म अपवित्र बन अपनी राजाई गँवाऊंगी थोड़ेही। इस पवित्रता की बात पर ही झगड़ा चलता है। द्रोपदी ने भी पुकारा है यह दुशासन हमको नंगन करते हैं। यह भी खेल दिखाते हैं कि द्रोपदी को कृष्ण 21 साड़ियां देते हैं। अब बाप बैठ समझाते हैं कितनी दुर्गति हो गई है। अपार दु:ख हैं ना। सतयुग में अपार सुख था। अब मैं आया हूँ – अनेक अधर्म का विनाश और एक सत धर्म की स्थापना करने। तुमको राज्य-भाग्य देकर वानप्रस्थ में चले जायेंगे। आधाकल्प फिर मेरी दरकार ही नहीं पड़ेगी। तुम कभी याद भी नहीं करेंगे। तो बाबा समझाते हैं – तुम्हारे लिए जो सबके मन में उल्टा वायब्रेशन है वह निकलकर ठीक हो रहा है। बाकी मुख्य बात है ओपीनियन लिखा लो ईश्वर सर्वव्यापी नहीं है। उसने तो आकर राजयोग सिखाया है। पतित-पावन भी बाप है। पानी की नदियां थोड़ेही पावन बना सकेंगी। पानी तो सब जगह होता है। अब बेहद का बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझो। देह सहित देह के सब सम्बन्ध छोड़ो। आत्मा ही एक शरीर छोड़ दूसरा लेती है। वह फिर कह देते आत्मा निर्लेप है। आत्मा सो परमात्मा यह है भक्ति मार्ग की बातें। बच्चे कहते हैं – बाबा, याद कैसे करें? अरे, अपने को आत्मा तो समझते हो ना। आत्मा कितनी छोटी बिन्दी है तो उनका बाप भी इतना छोटा होगा। वह पुनर्जन्म में नहीं आता है। यह बुद्धि में ज्ञान है। बाप याद क्यों नहीं आयेगा। चलते-फिरते बाप को याद करो। अच्छा, बड़ा रूप ही समझो बाप का। परन्तु याद तो एक को करो ना, तो तुम्हारे पाप कट जाएं। और तो कोई उपाय है नहीं। जो समझते हैं वह कहते हैं बाबा आपकी याद से हम पावन बन पावन दुनिया, विश्व के मालिक बनते हैं तो हम क्यों नहीं याद करेंगे। एक-दो को भी याद दिलाना है तो पाप कट जाएं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) जैसे बाप और नॉलेज गुप्त है, ऐसे पुरूषार्थ भी गुप्त करना है। गीत-कविताओं आदि के बजाए चुप रहना अच्छा है। शान्ति में चलते-फिरते बाप को याद करना है।

2) पुरानी दुनिया बदल रही है इसलिए इससे ममत्व निकाल देना है, इसे देखते हुए भी नहीं देखना है। बुद्धि नई दुनिया में लगानी है।

वरदान:- सर्व पदार्थो की आसक्तियों से न्यारे अनासक्त, प्रकृतिजीत भव
अगर कोई भी पदार्थ कर्मेन्द्रियों को विचलित करता है अर्थात् आसक्ति का भाव उत्पन्न होता है तो भी न्यारे नहीं बन सकेंगे। इच्छायें ही आसक्तियों का रूप हैं। कई कहते हैं इच्छा नहीं है लेकिन अच्छा लगता है। तो यह भी सूक्ष्म आसक्ति है – इसकी महीन रूप से चेकिंग करो कि यह पदार्थ अर्थात् अल्पकाल सुख के साधन आकर्षित तो नहीं करते हैं? यह पदार्थ प्रकृति के साधन हैं, जब इनसे अनासक्त अर्थात् न्यारे बनेंगे तब प्रकृतिजीत बनेंगे।
स्लोगन:- मेरे-मेरे के झमेलों को छोड़ बेहद में रहो तब कहेंगे विश्व कल्याणकारी।

BRAHMA KUMARIS MURLI 17 SEPTEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 17 September 2017

September 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 16 September 2017 :- Click Here
BK murli today ~ 17/09/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली
17/09/17
मधुबन
“अव्यक्त-बापदाद”‘
ओम् शान्ति
09-01-83

व्यर्थ को छोड़ समर्थ संकल्प चलाओ

आज बापदादा सभी सिकीलधे बच्चों से मिलन मनाने के लिए विशेष आये हैं। डबल विदेशी बच्चे मिलन मनाने के लिए सदा इन्तजार में रहते हैं। तो आज बापदादा डबल विदेशी बच्चों से एक एक की विशेषता की रूह-रूहाण करने आये हैं। एक-एक स्थान की अपनी-अपनी विशेषता है। कहाँ संख्या ज्यादा और कहाँ संख्या कम होते भी अमूल्य रत्न, विशेष रत्न थोड़े चुने हुए होते भी अपना बहुत अच्छा पार्ट बजा रहे हैं। ऐसे बच्चों के उमंग-उत्साह को देख, बच्चों की सेवा को देख बापदादा हर्षित होते हैं। विशेष रूप में विदेश के चारों ही कोनों में बाप को प्रत्यक्ष करने के प्लैन प्रैक्टिकल करने में अच्छी सफलता को पा रहे हैं। सर्व धर्मो की आत्माओं को बाप से मिलाने का प्रयत्न अच्छा कर रहे हैं। सेवा की लगन अच्छी है। अपनी भटकती हुई आत्मा को ठिकाना मिलने के अनुभवी होने के कारण औरों के प्रति भी रहम आता है। जो भी दूर-दूर से आये हैं उन्हों का एक ही उमंग है कि जाना है और अन्य को भी ले जाना है। इस दृढ़ संकल्प ने सभी बच्चों को दूर होते भी नजदीक का अनुभव कराया है इसलिए सदा अपने को बापदादा के वर्से के अधिकारी आत्मा समझ चल रहे हैं।

कभी भी किसी व्यर्थ संकल्प के आधार पर अपने को हलचल में नहीं लाओ। कल्प-कल्प के पात्र हो। अच्छा – आज तो पार्टियों से मिलना है। पहला नम्बर मिलने का चान्स अमेरिका पार्टी को मिला है। तो अमेरिका वाले सभी मिलकर सेवा में सबसे नम्बरवन कमाल भी तो दिखायेंगे ना। अभी बापदादा देखेंगे कि कानफ्रेंस में सबसे बड़े ते बड़े वी.आई.पी. कौन ले आते हैं। नम्बरवन वी.आई.पी. कहाँ से आ रहा है? (अमेरिका से) वैसे तो आप बाप के बच्चे वी.वी.वी.आई.पी. हो। आप सबसे बड़ा तो कोई भी नहीं है लेकिन जो इस दुनिया के वी.आई.पी. हैं उन आत्माओं को भी सन्देश देने का यह चान्स है। इन्हों का भाग्य बनाने के लिए यह पुरुषार्थ करना पड़ता है क्योंकि वे तो अपने को इस पुरानी दुनिया के बड़े समझते हैं ना। तो छोटे-छोटे कोई प्रोग्राम में आना वह अपना रिगार्ड नहीं समझते इसलिए बड़े प्रोग्राम में बड़ों को बुलाने का चान्स है। वैसे तो बापदादा बच्चों से ही मिलते और रूह-रूहान करते। विशेष आते भी बच्चों के लिए ही हैं। फिर ऐसे-ऐसे लोगों का भी उल्हना न रह जाए कि हमें हमारे योग्य निमंत्रण नहीं मिला इस उल्हनें को पूरा करने के लिए यह सब प्रोग्राम रचे जाते हैं। बापदादा को तो बच्चों से प्रीत है और बच्चों को बापदादा से प्रीत है। अच्छा।

सभी डबल विदेशी तन से और मन से सन्तुष्ट हो? थोड़ा भी किसको कोई संकल्प तो नहीं है? कोई तन की वा मन की प्राबल्म है? शरीर बीमार हो लेकिन शरीर की बीमारी से मन डिस्टर्ब न हो। सदैव खुशी में नाचते रहो तो शरीर भी ठीक हो जायेगा। मन की खुशी से शरीर को भी चलाओ तो दोनों एक्सरसाइज हो जायेंगी। खुशी है दुआ और एक्सरसाइज है दवाई। तो दुआ और दवा दोनों होने से सहज हो जायेगा। (एक बच्चे ने कहा रात्रि को नींद नहीं आती है) सोने के पहले योग में बैठो तो फिर नींद आ जायेगी। योग में बैठने समय बापदादा के गुणों के गीत गाओ। तो खुशी से दर्द भी भूल जायेगा। खुशी के बिना सिर्फ यह प्रयत्न करते हो कि मैं आत्मा हूँ, मैं आत्मा हूँ, तो इस मेहनत के कारण दर्द भी फील होता है। खुशी में रहो तो दर्द भी भूल जायेगा।

कोई भी बात में किसको भी कोई क्वेश्चन हो या छोटी सी बात में कब कनफ्यूज़ भी जल्दी हो जाते, तो वह छोटी-छोटी बातें फौरन स्पष्ट करके आगे चलते चलो। ज्यादा सोचने के अभ्यासी नहीं बनो। जो भी सोच आये उसको वहाँ ही खत्म करो। एक सोच के पीछे अनेक सोच चलने से फिर स्थिति और शरीर दोनों पर असर आता है इसलिए डबल विदेशी बच्चों को सोचने की बात पर डबल अटेन्शन देना चाहिए क्योंकि अकेले रहकर सोचने के नैचुरल अभ्यासी हो। तो वह अभ्यास जो पड़ा हुआ है, इसलिए यहाँ भी छोटी-छोटी बात पर ज्यादा सोचते। तो सोचने में टाइम वेस्ट जाता और खुशी भी गायब हो जाती और शरीर पर भी असर आता है, उसके कारण फिर सोच चलता है इसलिए तन और मन दोनों को सदा खुश रखने के लिए सोचो कम। अगर सोचना ही है तो ज्ञान रत्नों को सोचो। व्यर्थ संकल्प की भेंट में समर्थ संकल्प चलता है कि मेरा पार्ट तो इतना दिखाई नहीं देता, योग लगता नहीं। अशरीरी होते नहीं। यह है व्यर्थ संकल्प। उनकी भेंट में समर्थ संकल्प करो, याद तो मेरा स्वधर्म है। बच्चे का धर्म ही है बाप को याद करना। क्यों नहीं होगा, जरूर होगा। मैं योगी नहीं तो और कौन बनेगा। मैं ही कल्प-कल्प का सहजयोगी हूँ। तो व्यर्थ के बजाए इस प्रकार के समर्थ संकल्प चलाओ। मेरा शरीर चल नहीं सकता, व्यर्थ संकल्प नहीं चलाओ। इसके बजाए समर्थ संकल्प यह है कि इसी अन्तिम जन्म में बाप ने हमको अपना बनाया है। कमाल है, बलिहारी इस अन्तिम शरीर की। जो इस पुराने शरीर द्वारा जन्म-जन्म का वर्सा ले लिया। दिलशिकस्त के संकल्प नहीं करो, लेकिन खुशी के संकल्प करो। वाह मेरा पुराना शरीर, जिसने बाप से मिलाने के निमित्त बनाया। वाह वाह कर चलाओ। जैसे घोड़े को प्यार से, हाथ से चलाते हैं तो घोड़ा बहुत अच्छा चलता है। अगर घोड़े को बार-बार चाबुक लगायेंगे तो और ही तंग करेगा। यह शरीर भी आपका है, इनको बार-बार ऐसे नहीं कहो कि यह पुराना, बेकार शरीर है। यह कहना जैसे चाबुक लगाते हो। खुशी-खुशी से इसकी बलिहारी गाते आगे चलाते रहो। फिर यह पुराना शरीर कभी डिस्टर्ब नहीं करेगा। बहुत सहयोग देगा। (कोई ने कहा – प्रामिस भी करके जाते हैं, फिर भी माया आ जाती है)

माया से घबराते क्यों हो? माया आती है आपको पाठ पढ़ाने लिए। घबराओ नहीं। पाठ पढ़ लो। कभी सहनशीलता का पाठ, कभी एकरस स्थिति में रहने का पाठ पढ़ाती। कभी शान्त स्वरूप बनने का पाठ पक्का कराने आती। तो माया को उस रूप में नहीं देखो माया आ गई, घबरा जाते हो। लेकिन समझो कि माया भी हमारी सहयोगी बन, बाप से पढ़ा हुआ पाठ पक्का कराने के लिए आई है। माया को सहयोगी के रूप में समझो। दुश्मन नहीं। पाठ पक्का कराने के लिए सहयोगी है तो आपका अटेन्शन सारा उस बात में चला जायेगा। फिर घबराहट कम होगी और हार नहीं खायेंगे। पाठ पक्का करके अंगद के समान बन जायेंगे। तो माया से घबराओ नहीं। जैसे छोटे बच्चों को माँ बाप डराने के लिए कहते हैं, हव्वा आ जायेगा। आप सबने भी माया को हव्वा बना दिया है। वैसे माया खुद आप लोगों के पास आने में घबराती है। लेकिन आप स्वयं कमजोर हो, माया का आव्हान करते हो। नहीं तो वह आयेगी नहीं। वह तो विदाई के लिए ठहरी हुई है। वह भी इन्तजार कर रही है कि हमारी लास्ट डेट कौन सी है? अब माया को विदाई देंगे या घबरायेंगे।

डबल विदेशियों की यह एक विशेषता है – उड़ते भी बहुत तेज हैं और फिर डरते हैं तो छोटी सी मक्खी से भी डर जाते हैं। एक दिन बहुत खुशी में नाचते रहेंगे और दूसरे दिन फिर चेहरा बदली हो जायेगा। इस नेचर को बदली करो। इसका कारण क्या है?

इन सब कारणों का भी फाउन्डेशन है – सहनशक्ति की कमी। सहन करने के संस्कार शुरू से नहीं हैं, इसलिए जल्दी घबरा जाते हो। स्थान को बदलेंगे या जिन से तंग होंगे उनको बदल लेंगे। अपने को नहीं बदलेंगे। यह जो संस्कार है वह बदलना है। ”मुझे अपने को बदलना है” स्थान को वा दूसरे को नहीं बदलना है लेकिन अपने को बदलना है। यह ज्यादा स्मृति में रखो, समझा। अब विदेशी से स्वदेशी संस्कार बना लो। सहनशीलता का अवतार बन जाओ। जिसको आप लोग कहते हो अपने को एडजस्ट करना है। किनारा नहीं करना है, छोड़ना नहीं है।

हंस और बगुले की बात अलग है। उन्हों की आपस में खिट-खिट है। वह भी जहाँ तक हो सके उसके प्रति शुभ भावना से ट्रायल करना अपना फ़र्ज है। कई ऐसे भी मिसाल हुए हैं जो बिल्कुल एन्टी थे लेकिन शुभ भावना से निमित्त बनने वाले से भी आगे जा रहे हैं। तो शुभ भावना फुल फोर्स से ट्रायल करनी चाहिए।

अगर फिर भी नहीं होता है तो फिर डायरेक्शन लेकर कदम उठाना चाहिए क्योंकि कई बार ऐसे किनारा कर देने से कहाँ डिस सर्विस भी हो जाती है। और कई बार ऐसा भी होता है कि आने वाली ब्राह्मण आत्मा की कमी होने के कारण अन्य आत्मायें भी भाग्य लेने से वंचित रह जाती हैं इसलिए पहले स्वयं ट्रायल करो फिर अगर समझते हो यह बड़ी प्राबलम है तो निमित्त बनी आत्माओं से वेरीफाय कराओ। फिर वह भी अगर समझती हैं कि अलग होना ही ठीक है फिर अलग हुए भी तो आपके ऊपर जवाबदारी नहीं रही। आप डायरेक्शन पर चले। फिर आप निश्चिन्त। कई बार ऐसा होता है – जोश में छोड़ दिया, लेकिन अपनी गलती के कारण छोड़ने के बाद भी वह आत्मा खींचती रहती है। बुद्धि जाती रहती है यह भी बड़ा विघ्न बन जाता है। तन से अलग हो गये लेकिन मन का हिसाब-किताब होने के कारण खींचता रहता इसलिए निमित्त बनी हुई आत्माओं से वेरीफाय कराओ क्योंकि यह कर्मों की फिलॉसाफी है। जबरदस्ती तोड़ने से भी मन बार-बार जाता रहता है। कर्म की फिलॉसाफी को ज्ञान स्वरूप होकर पहचानो और फिर वेरीफाय कराओ। फिर कर्म बन्धन को ज्ञान युक्त होकर खत्म करो।

बाकी ब्राह्मण आत्माओं में, हमशरीक होने के कारण ईर्ष्या उत्पन्न होती है, ईर्ष्या के कारण संस्कारों का टक्कर होता है लेकिन इसमें विशेष बात यह सोचो कि जो हमशरीक हैं, उनको निमित्त बनाने वाला कौन? उनको नहीं देखो फलाना इस ड्युटी पर आ गया, फलानी टीचर हो गई, नम्बरवन सर्विसएबुल हो गई। लेकिन यह सोचो कि उस आत्मा को निमित्त बनाने वाला कौन? चाहे निमित्त बनी हुई विशेष आत्मा द्वारा ही उनको ड्युटी मिलती है लेकिन निमित्त बनने वाली टीचर को भी निमित्त किसने बनाया? इसमें जब बाप बीच में हो जायेगा तो माया भाग जायेगी, ईर्ष्या भाग जायेगी लेकिन जैसे कहावत है ना – या होगा बाप या होगा पाप। जब बाप को बीच से निकालते हो तब पाप आता है। ईर्ष्या भी पाप कर्म है ना। अगर समझो बाप ने निमित्त बनाया है तो बाप जो कार्य करते उसमें कल्याण ही है। अगर उसकी कोई ऐसी बात अच्छी न भी लगती है, रांग भी हो सकती है, क्योंकि सब पुरुषार्थी हैं। अगर रांग भी है तो अपनी शुभ भावना से ऊपर दे देना चाहिए। ईर्ष्या के वश नहीं। लेकिन बाप की सेवा सो हमारी सेवा है – इस शुभ भावना से, श्रेष्ठ जिम्मेवारी से ऊपर बात दे देनी चाहिए। देने के बाद खुद निश्चिन्त हो जाओ। फिर यह नहीं सोचो कि यह बात दी फिर क्या हुआ। कुछ हुआ नहीं। हुआ या नहीं, यह ज़िम्मेवारी बड़ों की हो जाती है। आपने शुभ भावना से दी, आपका काम है अपने को खाली करना। अगर देखते हो बडों के ख्याल में बात नहीं आई तो भल दुबारा लिखो। लेकिन सेवा की भावना से। अगर निमित्त बने हुए कहते हैं कि इस बात को छोड़ दो तो अपना संकल्प और समय व्यर्थ नहीं गंवाओ। ईर्ष्या नहीं करो। लेकिन किसका कार्य है, किसने निमित्त बनाया है, उसको याद करो। किस विशेषता के कारण उनको विशेष बनाया गया है, वह विशेषता अपने में धारण करो तो रेस हो जायेगी न कि रीस। समझा।

अपसेट कभी नहीं होना चाहिए। जिसने कुछ कहा उनसे ही पूछना चाहिए कि आपने किस भाव से कहा – अगर वह स्पष्ट नहीं करते तो निमित्त बने हुए से पूछो कि इसमें मेरी गलती क्या है। अगर ऊपर से वेरीफाय हो गया, आपकी गलती नहीं है तो आप निश्चिन्त हो जाओ। एक बात सभी को समझनी चाहिए कि ब्राह्मण आत्माओं द्वारा यहाँ ही हिसाब-किताब चुक्तू होना है। धर्मराजपुरी से बचने के लिए ब्राह्मण कहाँ न कहाँ निमित्त बन जाते हैं। तो घबराओ नहीं कि यह ब्राह्मण परिवार में क्या होता है। ब्राह्मणों का हिसाब-किताब ब्राह्मणों द्वारा ही चुक्तू होना है। तो यह चुक्तू हो रहा है, इसी खुशी में रहो। हिसाब-किताब चुक्तू हुआ और तरक्की ही तरक्की हुई। अभी एक वायदा करो कि छोटी-छोटी बात में कनफ्यूज़ नहीं होंगे, प्राबलम नहीं बनेंगे लेकिन प्राबलम को हल करने वाले बनेंगे। समझा।

वरदान:- अपनी शक्तियों वा गुणों द्वारा निर्बल को शक्तिवान बनाने वाले श्रेष्ठ दानी वा सहयोगी भव 
श्रेष्ठ स्थिति वाले सपूत बच्चों की सर्व शक्तियाँ और सर्व गुण समय प्रमाण सदा सहयोगी रहते हैं। उनकी सेवा का विशेष स्वरूप है-बाप द्वारा प्राप्त गुणों और शक्तियों का अज्ञानी आत्माओं को दान और ब्राह्मण आत्माओं को सहयोग देना। निर्बल को शक्तिवान बनाना – यही श्रेष्ठ दान वा सहयोग है। जैसे वाणी द्वारा वा मन्सा द्वारा सेवा करते हो ऐसे प्राप्त हुए गुणों और शक्तियों का सहयोग अन्य आत्माओं को दो, प्राप्ति कराओ।
स्लोगन:- जो दृढ़ निश्चय से भाग्य को निश्चित कर देते हैं वही सदा निश्चिंत रहते हैं।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 15 September 2017 :- Click Here

Font Resize