17 may ki murli

TODAY MURLI 17 MAY 2021 DAILY MURLI (English)

17/05/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, Baba has come to make you children praise worthy, similar to Himself. You are now imbibing the Father’s praise.
Question: With which expression do people on the path of devotion call out and remember God, the Beloved, with a lot of love, even though they don’t know Him fully?
Answer: They call out and remember Him with a lot of love, saying: O Beloved, when You come, I will only remember You and break my intellect’s yoga away from everyone else and connect it to You alone! The Father says: Children, I have now come. Therefore, become soul conscious! Your first duty is to remember the Father with a lot of love.

Om shanti. The Supreme Father, the Supreme Soul, (who has taken a body on loan), now sits here and explains to you sweetest embodied souls: I enter an ordinary old body. I come and teach many children. He only explains to the Brahmin children who are the mouth-born creation of Brahma. He definitely explains to them through a mouth. Who else would He explain to? He says: Children, you were calling out to Me on the path of devotion: O Purifier! Everyone, in Bharat and the world in general, calls out to Me. When Bharat was pure, all the rest were in the land of peace. You children should keep in your awareness what the golden and silver ages are and what the copper and iron ages are. Your intellects have the full knowledge of who used to rule there. Just as the Father has the knowledge of the beginning, the middle and the end of creation, so your intellects also have it. You children should also have the knowledge that the Father gives you. The Father comes and makes you children equal to Himself. There is as much praise of the children as there is of the Father. The Father made the children more praiseworthy. Always consider it to be Shiv Baba teaching through this one. It is a soul that speaks to other souls. However, because people are body conscious, they think that so-and-so is teaching. In fact, it is souls who do everything. It is souls who plays their parts. You have to become soul conscious. Repeatedly consider yourself to be a soul. Until you consider yourself to be a soul, you won’t be able to remember the Father; you will forget Him. When you are asked whose children you are, you reply that you are Shiv Baba’s children. There is the question in the visitor’s book: Who is your father? They instantly tell you the names of their physical fathers. OK, so what is the name of the Father of souls? Some write Krishna’s name and others write Hanuman’s name. Or they write that they don’t know. Oh! You know your physical father, but you don’t know the parlokik Father whom you constantly remember when in sorrow! You even say: O God, have mercy! O God, give us a son! You ask God, do you not? The Father now tells you something very easy. Because you remain body conscious a great deal, there isn’t the intoxication of the Father’s inheritance. You should have a lot of intoxication. People perform devotion in order to meet God. To have sacrificial fires, do tapasya, donate and perform charity are all devotion. Everyone remembers the one God. The Father says: I am the Husband of all husbands and the Father of all fathers. Everyone definitely remembers God, the Father. It is souls who remember Him. Although they speak of a wonderful star shining in the centre of the forehead, they say this without any understanding. They don’t understand the significance of it at all. You don’t even know souls, so how could you know the Father of souls? Those on the path of devotion have visions. On the path of devotion, they build huge Shiva lingams in order to worship them because if they were to show the form of a point, no one would be able to understand it. These are subtle matters. People say that God is the infinite and eternal form of light; they say that He has a very big form. Those who belong to the Brahm Samajis sect say that God is light. No one in the world knows that the Supreme Father, the Supreme Soul, is a point and this is why they are confused. Some children even ask: Baba, whom should we remember? We had heard that He is a big lingam form and that He is remembered in that form. Now, how can we remember a point? Oh! But you souls are points and the Father too is a point. You call out to that Soul and so He would definitely come and sit here. All the visions that people have on the path of devotion are just devotion. They don’t worship just one, but they have made many into God. How can devotees who continue to perform worship be called God? If God is omnipresent, whom are they worshipping? They perform many different types of devotion. The Father explains: Children, don’t think that you will live for many more years. The time is now coming very close. Have the faith that Baba has to carry out establishment through Brahma. The Father Himself says: I tell you the secrets of the beginning, the middle and the end of the world through this one. It is remembered that establishment takes place through Brahma. They don’t know that the new world is called the land of Vishnu. This means that the dual-form of Vishnu rules the kingdom there. No one knows who Vishnu is. You know that Brahma and Saraswati become the dual-form of Vishnu and sustain that kingdom as Lakshmi and Narayan; establishment through Brahma and then they sustain the land of Vishnu, that is, heaven. It should enter your intellects that the Father is the Ocean of Knowledge, that He is the Seed of the human world tree. He knows the beginning, the middle and the end of this drama. He alone is the Purifier. Whatever is the Father’s business is also your business. You also purify the impure. In the world, a father may have three or four children and one of them may have risen very high whereas another may have a very low position. Here, the Father is teaching you the one business of how to purify the impure. Give everyone the aim that Shiv Baba says: Remember Me! They have wrongly written in the Gita that God Krishna speaks. You have to explain that God is incorporeal and that He is beyond rebirth. This is the one mistake they have made. You children are now becoming the masters of the land of Krishna. Some will become part of the royal family and others will become subjects. It is called the land of Krishna because everyone has a lot of love for Krishna. Children are very much loved by everyone and children also have love for their parents. All their love is then distributed among many. The Father now explains: Don’t consider yourselves to be bodies. Constantly have the faith that you are a soul. Become soul conscious! The Father is incorporeal and He has to take a body here in order to explain; He cannot explain anything without a body. You have your own bodies and Baba takes a body on loanthere is no question of inspiration in this. The Father Himself says: I adopt this body and teach you children because you souls, who have become tamopradhan, now have to become satopradhan. They sing, “O Purifier, come!”, but they don’t understand the meaning of it. You now understand how the Father comes and purifies you. You also know that there will just be your small tree in the golden age. You will go to heaven, but no name or trace of any of the other lands will remain. Only the land of Bharat will be heaven. Only the Supreme Father, the Supreme Soul, comes and establishes heaven. It is now hell. It was only in the ancient land of Bharat that the deities used to rule. They no longer exist, but their temples and images exist here. Therefore, this is a matter of Bharat. It doesn’t enter the intellects of any of the people of Bharat that Bharat was heaven, where Lakshmi and Narayan were the masters and that there was no other land then. There are now innumerable religions. The people of Bharat have become corrupt in their religion and actions. They call Krishna the ugly and beautiful one, but they don’t understand the meaning of that. He truly was ugly. It is said that Krishna was bitten by a snake and so he became ugly. He was a prince of the golden age, so how did he become ugly? You now understand these things. Even the parents of Krishna are now studying. Shri Krishna is remembered as being higher than his parents. The names of his parents are not remembered. Generally, parents who give birth to such a child would also be just as lovely, but no; all the praise is of Radhe and Krishna. There is no praise of their parents. You have knowledge in your intellects. Knowledge is day and devotion is night. People continue to stumble in the darkness of the night. It is now explained to you children that you are to live at home and continue to do this service. Explain to anyone: You are lovers of the one Beloved for half the cycle. Everyone remembers Him on the path of devotion, and so they are all lovers, are they not? However, they don’t know the Beloved fully. They remember Him with a lot of love: O Beloved, when You come, I will only remember You and will break my intellect’s yoga away from everyone else and connect it to You alone. You used to sing this, but you didn’t know what inheritance you would receive from the Father. The Father now explains: Become soul conscious! It is the first duty of you children to remember the Father. A son always remembers his father and a daughter remembers her mother. They are equals. A son understands that he will be his father’s heir. A daughter does not think in that way. She would be aware that she has to leave her parents’ home and go to her in-laws’ home. You now have the incorporeal and corporeal parents’ home. People call out: O Supreme Father, Supreme Soul, have mercy! Remove our sorrow and grant us happiness! Liberate us! Become our Guide! However, even great scholars don’t know the meaning of this. The Father is the Liberator of all. He is the Benefactor of everyone. If those people cannot benefit themselves, how could they benefit others? Here, the Father says: I come in an incognito way. You have heard the story of God, the Friend, have you not? This is the bridge between the iron and the golden ages and you have to go across to the other side. God is the Father. He is also the Friend. He also plays the parts of the Mother, the Father and the Teacher too. Because you have visions here, people say that there is magic here. Even those who do intense devotion have visions. There are many staunch devotees. They say: Grant me a vision! Otherwise I will cut my throat! Only then do they have visions. That is called intense devotion. There is no question of intense devotion here. Many have visions while sitting at home. I hold the key to divine visions. I also granted a divine vision to Arjuna, did I not? “Look at this destruction! Now, look at your own kingdom! Now constantly remember Me alone and you will become this!” You now understand who Vishnu is. Those who build temples themselves do not know this. Sustenance takes place through Vishnu. Two arms of the four arms symbolise the male and two, the female. The dual-form of Vishnu represents Lakshmi and Narayan. However, no one understands anything. No one has any knowledge of either Shiv Baba or of Vishnu. At first, there was the attraction of Baba and many used to come. In the beginning, the whole courtyard would be full. Judges and magistrates also used to come. Then, there was fighting over purity and they began to ask how the world would continue if children weren’t born, that it is the law for the world population to grow. They forgot the words in the Gita where God says. “Lust is the greatest enemy and you have to conquer it.” They started saying: Give knowledge to both husband and wife together; not just to one. However, it can only be given to both when both of them come together. Even when knowledge is given to both together, one would take it and the other one wouldn’t. What can one do if it is not in their fortune? One becomes a swan and the other one remains a stork. Here, you Brahmins are even more elevated than the deities. You know that you are the children of God. You are the children of Shiv Baba. You will not have this knowledge in heaven. Even when you are in the incorporeal world, the land of liberation, you will not have this knowledge. This knowledge finishes with the body. You now have the knowledge that one Baba is teaching you. This play is now coming to an end and all the actors are present here. Baba too has come here. All the souls that still remain up there are continuing to come down. When they have all come down, destruction will take place and the Father will take everyone back with Him. Everyone has to return home. This impure world has to be destroyed. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. 1. Do the same business as the Father, which is of purifying the impure. Give everyone the aim of remembering the Father and of becoming pure.
  2. Maintain the intoxication that this Brahmin life is even more elevated than that of the deities. Break your intellect’s yoga away from everyone else and remember the one Beloved.
Blessing: May you transform attraction into being free from attraction and become an embodiment of power.
In order to become an embodiment of power, transform attraction into being free from attraction. If there is any attraction to your body, your relations or any physical possessions, Maya can also come and you will then not be able to become an embodiment of power. This is why you first have to become free from attraction and you will then be able to face the obstacles of Maya. Instead of screaming out or being afraid when obstacles come, adopt the form of power and you will become a destroyer of obstacles.
Slogan: Let your mercy be altruistic and free from attachment, not filled with selfishness.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 17 MAY 2021 : AAJ KI MURLI

17-05-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – बाबा आये हैं, आप बच्चों को अपने समान महिमा लायक बनाने, बाप की जो महिमा है वह अभी तुम धारण करते हो”
प्रश्नः- भक्तिमार्ग में परमात्मा माशुक को पूरा न जानते भी कौन से शब्द बहुत प्यार से बोलते और याद करते हैं?
उत्तर:- बहुत प्यार से कहते और याद करते हैं हे माशूक तुम जब आयेंगे तो हम सिर्फ आपको ही याद करेंगे और सबसे बुद्धियोग तोड़ आपके साथ जोड़ेंगे। अब बाप कहते हैं बच्चे, मैं आया हुआ हूँ तो देही-अभिमानी बनो। तुम्हारा पहला फ़र्ज है – प्यार से बाप को याद करना।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे जीव की आत्माओं को, परमपिता परमात्मा (जिसने अब शरीर का लोन लिया है) बैठ समझाते हैं कि मैं साधारण बूढ़े तन में आता हूँ। आकर बहुत बच्चों को पढ़ाता हूँ। ब्रह्मा मुख वंशावली ब्राह्मण बच्चों को ही समझायेंगे। जरूर मुख द्वारा ही समझायेंगे और किसको समझायेंगे। कहते हैं – बच्चे, तुम मुझे भक्ति मार्ग में बुलाते आये हो – हे पतित-पावन, भारत खास और दुनिया में आम सब बुलाते हैं। भारत ही पावन था, बाकी सब शान्तिधाम में थे। बच्चों को यह स्मृति में रखना चाहिए कि सतयुग-त्रेता किसको कहा जाता है, द्वापर-कलियुग किसको कहा जाता है। उनमें कौन-कौन राज्य करते थे, तुम्हारी बुद्धि में पूरी नॉलेज है। जैसे बाप को रचना के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान है, वैसे तुम्हारी बुद्धि में भी है। बाप जो ज्ञान देते हैं वह बच्चों में भी जरूर होना चाहिए। बाप आकर बच्चों को आप समान बनाते हैं। जितनी बाप की महिमा है उतनी बच्चों की है। बाप ने बच्चों को जास्ती महिमावान बनाया है। हमेशा समझो कि शिवबाबा इन द्वारा सिखाते हैं। आत्मा ही एक-दो से बात करती है। परन्तु मनुष्य देह-अभिमानी होने के कारण समझते हैं, फलाना पढ़ाता है। वास्तव में करती सब कुछ आत्मा है। आत्मा ही पार्ट बजाती है। देही-अभिमानी बनना है। घड़ी-घड़ी अपने को आत्मा समझना है। जब तक अपने को आत्मा नहीं समझेंगे तो बाप को भी याद नहीं कर सकेंगे। भूल जाते हैं। तुमसे पूछा जाता है – तुम किसके बच्चे हो? तो कहते हो हम शिवबाबा के बच्चे हैं। विजीटर बुक में भी लिखा हुआ है – तुम्हारा बाप कौन है? तो झट देह के बाप का नाम बतायेंगे। अच्छा – अब देही के बाप का नाम बताओ। तो कोई कृष्ण का, कोई हनूमान का नाम लिखेंगे या तो लिखेंगे – हम नहीं जानते। अरे, तुम लौकिक बाप को जानते हो और पारलौकिक बाप जिनको तुम हमेशा दु:ख में याद करते हो, उनको नहीं जानते हो! कहते भी हैं, हे भगवान रहम करो। हे भगवान एक बच्चा दो। माँगते हो ना। अब बाप बिल्कुल सहज बात बताते हैं। तुम देह-अभिमान में बहुत रहते हो इसलिए बाप के वर्से का नशा नहीं चढ़ता है। तुमको तो बहुत नशा चढ़ना चाहिए। भक्ति करते ही हैं – भगवान से मिलने के लिए। यज्ञ, तप, दान-पुण्य आदि करना यह सब भक्ति है। सब एक भगवान को याद करते हैं। बाप कहते हैं – मैं तुम्हारा पतियों का पति हूँ, बापों का बाप हूँ। सब बाप भगवान को याद जरूर करते हैं। आत्मायें ही याद करती हैं। भल कहते भी हैं, भ्रकुटी के बीच में चमकता है अजब सितारा… परन्तु यह बिगर समझ के ऐसे ही कह देते हैं। रहस्य का कुछ भी पता नहीं। तुम आत्मा को ही नहीं जानते हो तो आत्मा के बाप को कैसे जान सकेंगे। दीदार तो होता है भक्ति मार्ग वाला। भक्ति मार्ग में पूजा के लिए बड़ा-बड़ा लिंग रख देते हैं क्योंकि अगर बिन्दी का रूप दिखायें तो कोई समझ न सके। यह है महीन बात। परमात्मा जिसको अखण्ड ज्योति स्वरूप कहते हैं, मनुष्य कहते हैं उनका कोई बहुत बड़ा रूप है। ब्रह्म समाजी मठ वाले ज्योति को परमात्मा कहते हैं। दुनिया में यह किसको पता नहीं है कि परमपिता परमात्मा बिन्दी है, तो मूँझ पड़े हैं। बच्चे भी कहते हैं, बाबा किसको याद करें। हमने तो सुना था वह बड़ा लिंग है, उनको याद किया जाता है। अब बिन्दी को कैसे याद करें? अरे तुम आत्मा भी बिन्दी हो, बाप भी बिन्दी है। आत्मा को बुलाते हैं, वह जरूर यहाँ ही आकर बैठेंगे। भक्ति मार्ग में जो साक्षात्कार आदि होता है, यह है सब भक्ति। भक्ति भी एक की नहीं करते, बहुतों को भगवान बना दिया है। भगत जो भक्ति करते रहते हैं, उनको भगवान कैसे कहेंगे। अगर परमात्मा सर्वव्यापी कहते हैं तो फिर भक्ति किसकी करते हैं। सो भी भिन्न प्रकार की भक्ति करते हैं।

बाप समझाते हैं – बच्चे, ऐसे मत समझो कि हमको अनेक वर्ष जीना है। अभी समय बहुत नजदीक होता जाता है। निश्चय रखना है, बाबा को ब्रह्मा द्वारा स्थापना करानी है। बाप खुद कहते हैं – मैं इस द्वारा तुमको सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का राज़ बताता हूँ। गाते भी हैं – ब्रह्मा द्वारा स्थापना। यह नहीं जानते कि नई दुनिया को विष्णुपुरी कहा जाता है अर्थात् विष्णु के दो रूप राज्य करते थे। किसको पता नहीं है कि विष्णु कौन है। तुम जानते हो कि यह ब्रह्मा-सरस्वती ही फिर विष्णु के दो रूप लक्ष्मी-नारायण बन पालना करते हैं। ब्रह्मा द्वारा स्थापना, विष्णुपुरी अर्थात् स्वर्ग की फिर पालना करेंगे। तुम्हारी बुद्धि में आना चाहिए – बाप ज्ञान का सागर है। मनुष्य सृष्टि का बीजरूप है। वह इस ड्रामा के आदि-मध्य-अन्त को जानते हैं। वही पतित-पावन है, जो बाप का धन्धा है, वही तुम्हारा है। तुम भी पतित से पावन बनाते हो। दुनिया में एक बाप के 3-4 बच्चे होंगे, कोई बच्चा बहुत ऊंचा चढ़ा हुआ होगा, कोई बिल्कुल नीचे होगा। यहाँ तुमको बाप एक ही धन्धा सिखाते हैं कि तुम पतितों को पावन बनाओ। सबको यह लक्ष्य दो कि शिवबाबा कहते हैं – मुझे याद करो। गीता में कृष्ण भगवानुवाच उल्टा लिख दिया है। तुमको समझाना है – भगवान तो निराकार, पुनर्जन्म रहित है। बस यही भूल है। अभी तुम बच्चे कृष्णपुरी के मालिक बन रहे हो। कोई राजधानी में आते हैं, कोई प्रजा में। कृष्णपुरी कहा जाता है क्योंकि कृष्ण सभी को बहुत ही प्यारा है। बच्चे प्यारे लगते हैं ना। बच्चों का भी माँ-बाप से प्यार हो जाता है। प्यार सारा बिखर जाता है। अब बाप समझाते हैं – तुम अपने को शरीर मत समझो। घड़ी-घड़ी अपने को आत्मा निश्चय करो। आत्म-अभिमानी बनो। बाप भी निराकार है। यहाँ भी शरीर लेना पड़ता है – समझाने के लिए। बिगर शरीर तो समझा नहीं सकेंगे। तुमको तो अपना शरीर है, बाबा फिर लोन लेते हैं। बाकी इसमें प्रेरणा आदि की बात ही नहीं। बाप खुद कहते हैं – मैं यह शरीर धारण कर बच्चों को पढ़ाता हूँ क्योंकि तुम्हारी आत्मा जो अभी तमोप्रधान बन गई है, उनको सतोप्रधान बनाना है। गाते भी हैं, पतित-पावन आओ, परन्तु अर्थ नहीं समझते। अभी तुम समझते हो – बाप कैसे आकर पावन बनाते हैं। यह भी तुम जानते हो। सतयुग में सिर्फ हमारा ही छोटा झाड़ होगा, तुम स्वर्ग में जायेंगे। बाकी जो इतने खण्ड हैं उनका नाम-निशान नहीं होगा। भारत खण्ड ही स्वर्ग होगा। परमपिता परमात्मा ही आकर हेविन की स्थापना करते हैं। अभी हेल है। प्राचीन भारत खण्ड ही है जहाँ देवताओं का राज्य था, अब नहीं है। उन्हों के यहाँ मन्दिर हैं, चित्र हैं। तो भारत की ही बात हुई। यह कोई भी भारतवासी की बुद्धि में नहीं आता कि भारत स्वर्ग था, यह लक्ष्मी-नारायण मालिक थे और कोई खण्ड नहीं था। अब तो अनेक धर्म आ गये हैं। भारतवासी धर्म-भ्रष्ट, कर्म-भ्रष्ट बन गये हैं। कृष्ण को श्याम-सुन्दर कह देते हैं परन्तु अर्थ नहीं समझते। बरोबर यह सांवरा था ना। कहते हैं कृष्ण को सर्प ने डसा तो सांवरा हो गया। अब वह तो सतयुग का प्रिन्स था, कैसे काला हो गया। अभी तुम यह बातें समझते हो। कृष्ण के माँ-बाप भी अभी पढ़ रहे हैं। माँ-बाप से उत्तम श्रीकृष्ण गाया हुआ है। माँ-बाप का कोई नाम नहीं है। नहीं तो जिस माँ-बाप से ऐसा बच्चा पैदा हुआ वह माँ-बाप भी प्यारे होने चाहिए। परन्तु नहीं, महिमा सारी राधे-कृष्ण की है। माँ-बाप की कुछ है नहीं। तुम्हारी बुद्धि में ज्ञान है। ज्ञान है दिन, भक्ति है रात। अन्धियारी रात में ठोकरें खाते रहते हैं।

अभी तुम बच्चों को समझाया जाता है – घर में रहो, यह सर्विस भी करते रहो। कोई को भी समझाओ तुम आधाकल्प के आशिक हो, एक माशूक के। भक्ति मार्ग में सभी उनको याद करते हैं तो आशिक ठहरे ना। परन्तु माशूक को पूरा जानते नहीं हैं। याद बहुत प्यार से करते हैं, हे माशूक तुम जब आयेंगे तो हम सिर्फ आपको ही याद करेंगे और सबसे बुद्धियोग तोड़ आपके साथ जोड़ेंगे। ऐसे तो गाते थे ना, परन्तु बाप से हमको क्या वर्सा मिलता है, यह किसको भी पता नहीं है। अब बाप समझाते हैं – तुम देही-अभिमानी बनो। बाप को याद करना तुम बच्चों का पहला फ़र्ज है। बच्चा हमेशा बाप को, बच्ची माँ को याद करती है। हमजिन्स हैं ना। बच्चा समझता है हम बाप का वारिस बनेंगे। बच्ची थोड़ेही कहेगी, वह तो समझती है हमको पियरघर से ससुरघर जाना है। अब तुम्हारा निराकार और साकार पियरघर है। बुलाते भी हैं, हे परमपिता परमात्मा रहम करो। दु:ख हरो सुख दो, हमें लिबरेट करो, हमारा गाइड बनो। परन्तु उसका अर्थ बड़े-बड़े विद्वान आचार्य भी नहीं जानते हैं। बाप तो सर्व का लिबरेटर है, वही सबका कल्याणकारी है। बाकी वह अपना ही कल्याण नहीं कर सकते तो औरों का क्या करेंगे। यहाँ बाप कहते हैं – मैं गुप्त आता हूँ, खुदा-दोस्त की कहानी सुनी है ना। अब यह पुल है कलियुग और सतयुग के बीच का, उस पार जाना है। अब खुदा तो बाप है, दोस्त भी है। माता, पिता, शिक्षक का पार्ट भी बजाते हैं। यहाँ तुमको साक्षात्कार होता है तो जादू-जादू कह देते हैं। साक्षात्कार तो नौधा भक्ति वालों को भी होते हैं, बहुत तीखे भक्त होते हैं। दर्शन दो नहीं तो हम गला काटते हैं, तब साक्षात्कार होता है, उनको नौधा भक्ति कहा जाता है। यहाँ नौंधा भक्ति की बात नहीं। घर में बैठे-बैठे भी बहुतों को साक्षात्कार होते रहते हैं। दिव्य दृष्टि की चाबी मेरे पास है। अर्जुन को भी मैंने दिव्य दृष्टि दी ना। यह विनाश देखो, अपना राज्य देखो। अब मामेकम् याद करो तो यह बनेंगे। अभी तुम समझते हो – विष्णु कौन है? मन्दिर बनाने वाले खुद नहीं जानते। विष्णु द्वारा पालना, 4 भुजा का अर्थ ही है – 2 भुजा मेल की, 2 फीमेल की। विष्णु के दो रूप लक्ष्मी-नारायण हैं। परन्तु कुछ भी समझते नहीं हैं। किसका भी ज्ञान नहीं है। न शिवबाबा का, न विष्णु का। पहले-पहले बाबा का आकर्षण था, बहुत आते थे। शुरूआत में सारा आंगन भर जाता था। जज, मजिस्ट्रेट सब आते थे। फिर विकार का झगड़ा शुरू हुआ, कहने लगे बच्चे नहीं पैदा होंगे तो सृष्टि कैसे चलेगी। यह तो सृष्टि बढ़ने का कायदा है। गीता की बात ही भूल गये कि भगवानुवाच – काम महा-शत्रु है, उस पर जीत पानी है। कहने लगे स्त्री-पुरूष दोनों इकट्ठे आयें तो उनको ज्ञान दो। अकेले को नहीं दो। अब दोनों भी आयें तो देवें ना। देखो दोनों को इकट्ठा भी देते हैं तो भी कोई ज्ञान लेते हैं, कोई नहीं लेते हैं। तकदीर में नहीं होगा तो क्या कर सकते हैं। एक हँस, एक बगुला बन पड़ते हैं। यहाँ तुम ब्राह्मण, देवताओं से भी उत्तम हो। जानते हो – हम ईश्वरीय सन्तान हैं, शिवबाबा के बच्चे हैं। वहाँ स्वर्ग में तुमको यह ज्ञान नहीं रहेगा, न जब निराकारी दुनिया मुक्तिधाम में होंगे तब यह ज्ञान होगा। यह ज्ञान शरीर के साथ ही खत्म हो जाता है। अभी तुमको ज्ञान है, एक बाबा पढ़ा रहे हैं। अब यह खेल पूरा होता है, सब एक्टर्स हाजिर हैं। बाबा भी आया है। रही हुई आत्मायें भी आती रहती हैं। जब सब आ जायेंगे तब विनाश होगा फिर सबको बाप साथ ले जायेगा। सबको जाना है, इस पतित दुनिया का विनाश होना है। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) पतित से पावन बनाने का धन्धा जो बाप का है, वही धन्धा करना है। सबको लक्ष्य देना है कि बाप को याद करो और पावन बनो।

2) यह ब्राह्मण जीवन देवताओं से भी उत्तम जीवन है, इस नशे में रहना है। बुद्धि का योग और सबसे तोड़ एक माशूक को याद करना है।

वरदान:- आसक्ति को अनासक्ति में परिवर्तन करने वाले शक्ति स्वरूप भव
शक्ति स्वरूप बनने के लिए आसक्ति को अनासक्ति में बदली करो। अपनी देह में, सम्बन्धों में, कोई भी पदार्थ में यदि कहाँ भी आसक्ति है तो माया भी आ सकती है और शक्ति रूप नहीं बन सकते इसलिए पहले अनासक्त बनो तब माया के विघ्नों का सामना कर सकेंगे। विघ्नों के आने पर चिल्लाने वा घबराने के बजाए शक्ति रूप धारण कर लो तो विघ्न-विनाशक बन जायेंगे
स्लोगन:- रहम नि:स्वार्थ और लगावमुक्त हो – स्वार्थ वाला नहीं।

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 17 MAY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 17 May 2020

Murli Pdf for Print : – 

17-05-20
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 13-01-86 मधुबन

ब्राह्मण जीवन – सदा बेहद की खुशियों का जीवन

आज बापदादा अपने होली और हैपी हंसो की सभा देख रहे हैं। सभी होली के साथ हैपी भी सदा रहते हैं? होली अर्थात् पवित्रता की प्रत्यक्ष निशानी- हैपी अर्थात् खुशी सदा प्रत्यक्ष रूप में दिखाई देगी। अगर खुशी नहीं तो अवश्य कोई अपवित्रता अर्थात् संकल्प वा कर्म यथार्थ नहीं है तब खुशी नहीं है। अपवित्रता सिर्फ 5 विकारों को नहीं कहा जाता। लेकिन सम्पूर्ण आत्माओं के लिए, देवात्मा बनने वालों के लिए अयथार्थ, व्यर्थ, साधारण संकल्प, बोल वा कर्म भी सम्पूर्ण पवित्रता नही कहा जायेगा। सम्पूर्ण स्टेज के समीप पहुंच रहे हो इसलिए वर्तमान समय के प्रमाण व्यर्थ और साधारण कर्म न हों इसमें भी चेकिंग और चेन्ज चाहिए। जितना समर्थ और श्रेष्ठ संकल्प, बोल और कर्म होगा, उतना सदा खुशी की झलक, खुशनसीबी की फलक अनुभव होगी और अनुभव करायेगी। बापदादा सभी बच्चों की यह दोनों बातें चेक कर रहे थे कि पवित्रता कहाँ तक धारण की है! व्यर्थ और साधारणता अभी भी कहाँ तक है? और रूहानी खुशी, अविनाशी खुशी आन्तरिक खुशी कहाँ तक रहती है! सभी ब्राह्मण बच्चों का ब्राह्मण जीवन धारण करने का लक्ष्य ही है सदा खुश रहना। खुशी की जीवन व्यतीत करने के लिए ही ब्राह्मण बने हो न कि पुरूषार्थ की मेहनत वा किसी न किसी उलझन में रहने के लिए ब्राह्मण बने हो।

रूहानी आन्तरिक खुशी वा अतीन्द्रिय सुख जो सारे कल्प में नहीं प्राप्त हो सकता है वह प्राप्त करने के लिए ब्राह्मण बने हो। लेकिन चेक करो कि खुशी किसी साधन के आधार पर, किसी हद की प्राप्ति के आधार पर, वा थोड़े समय की सफलता के आधार पर, मान्यता वा नामाचार के आधार पर, मन के हद की इच्छाओं के आधार पर वा यही अच्छा लगता है – चाहे व्यक्ति, चाहे स्थान वा वैभव, ऐसे मन पसन्दी के प्रमाण खुशी की प्राप्ति का आधार तो नहीं है? इन आधारों से खुशी की प्राप्ति – यह कोई वास्तविक खुशी नहीं है। अविनाशी खुशी नहीं है। आधार हिला तो खुशी भी हिल जाती। ऐसी खुशी प्राप्त करने के लिए ब्राह्मण नहीं बने हो। अल्पकाल की प्राप्ति द्वारा खुशी यह तो दुनिया वालों के पास भी है। उन्हों का भी स्लोगन है खाओ पियो मौज करो। लेकिन वह अल्पकाल का आधार समाप्त हुआ तो खुशी भी समाप्त हो जाती। ऐसे ही ब्राह्मण जीवन में भी इन आधारों से खुशी की प्राप्ति हुई तो बाकी अन्तर क्या हुआ? खुशियों के सागर के बच्चे बने हो तो हर संकल्प में, हर सेकण्ड खुशी की लहरों में लहराने वाले हो। सदा खुशियों के भण्डार हो! इसको कहा जाता है होली और हैपी हंस। बापदादा देख रहे थे कि जो लक्ष्य है बिना कोई हद के आधार के सदा आन्तरिक खुशी में रहने का, उस लक्ष्य से बदल और हद की प्राप्तियों की छोटी-छोटी गलियों में फँस जाने कारण कई बच्चे लक्ष्य अर्थात् मंजिल से दूर हो जाते हैं। हाई वे को छोड़कर गलियों में फँस जाते हैं। अपना लक्ष्य, खुशी को छोड़ हद की प्राप्तियों के पीछे लग जाते हैं। आज नाम हुआ वा काम हुआ इच्छा पूर्ण हुई तो खुशी है। मनपसन्द, संकल्प पसन्द प्राप्ति हुई तो बहुत खुशी है। थोड़ी भी कमी हुई तो लक्ष्य वहाँ ही रह जाता। लक्ष्य हद के बन जाते इसलिए बेहद की अविनाशी खुशी से किनारा हो जाता है। तो बापदादा बच्चों से पूछते हैं कि क्या ब्राह्मण इसलिए बने हो? इसलिए यह रूहानी जीवन अपनाई है? यह तो साधारण जीवन है। इसको श्रेष्ठ जीवन नहीं कहा जाता।

कोई भी कर्म करो, चाहे कितनी भी बड़ी सेवा का काम हो लेकिन जो सेवा आन्तरिक खुशी, रूहानी मौज, बेहद की प्राप्ति से नीचे ले आती है अर्थात् हद में ले आती है, आज मौज कल मूंझ, आज खुशी कल व्यर्थ उलझन में डालती है, खुशी से वंचित कर देती है, ऐसी सेवा को छोड़ दो लेकिन खुशी को नहीं छोड़ो। सच्ची सेवा सदा बेहद की स्थिति का, बेहद की खुशी का अनुभव कराती है। अगर ऐसी अनुभूति नहीं है तो वह मिक्स सेवा है। सच्ची सेवा नहीं है। यह लक्ष्य सदैव रखो कि सेवा द्वारा स्वउन्नति, स्व प्राप्ति, सन्तुष्टता और महानता की अनुभूति हुई? जहाँ सन्तुष्टता की महानता होगी वहाँ अविनाशी प्राप्ति की अनुभूति होगी। सेवा अर्थात् फूलों के बगीचे को हरा-भरा करना। सेवा अर्थात् फूलों के बगीचे का अनुभव करना न कि कांटों के जंगल में फंसना। उलझन, अप्राप्ति, मन की मूंझ, अभी अभी मौज, अभी-अभी मूंझ, यह है कांटे। इन कांटों से किनारा करना अर्थात् बेहद की खुशी का अनुभव करना है। कुछ भी हो जाए- हद की प्राप्ति का त्याग भी करना पड़े, कई बातों को छोड़ना भी पड़े, बातों को छोड़ो लेकिन खुशी को नहीं छोड़ो। जिसके लिए आये हो उस लक्ष्य से किनारे न हो जाओ। यह सूक्ष्म चेकिंग करो। खुश तो हैं लेकिन अल्पकाल की प्राप्ति के आधार से खुश रहना इसी को ही खुशी तो नहीं समझते? कहाँ साइडसीन को ही मंजिल तो नहीं समझ रहे हो? क्योंकि साइडसीन भी आकर्षण करने वाले होते हैं। लेकिन मंजिल को पाना अर्थात् बेहद के राज्य अधिकारी बनना। मंजिल से किनारा करने वाले विश्व के राज्य अधिकारी नहीं बन सकते। रॉयल फैमिली में भी नहीं आ सकते इसलिए लक्ष्य को, मंजिल को सदा स्मृति में रखो। अपने से पूछो – चलते-चलते कहाँ कोई हद की गली में तो नहीं पहुंच रहे हैं! अल्पकाल के प्राप्ति की खुशी, सदाकाल की खुशनसीबी से किनारा तो नहीं करा रही है? थोड़े में खुश होने वाले तो नहीं हो? अपने आप को खुश तो नहीं कर रहे हो? जैसी हूँ, वैसी हूँ, ठीक हूँ, खुश हूँ। अविनाशी खुशी की निशानी है- उनको औरों से भी सदा खुशी की दुआयें अवश्य प्राप्त होंगी। बापदादा और निमित्त बड़ों के स्नेह की दुआयें अन्दर अलौकिक आत्मिक खुशी के सागर में लहराने का अनुभव करायेंगी। अलबेलेपन में यह नहीं सोचना मैं तो ठीक हूँ लेकिन दूसरे मेरे को नहीं जानते। क्या सूर्य की रोशनी छिप सकती है? सत्यता की खुशबू कभी मिट नहीं सकती। छिप नहीं सकती इसलिए धोखा कभी नहीं खाना। यही पाठ पक्का करना। पहले अपनी बेहद की अविनाशी खुशी फिर दूसरी बातें। बेहद की खुशी सेवा की वा सर्व के स्नेह की, सर्व द्वारा अविनाशी सम्मान प्राप्त होने की खुशनसीबी अर्थात् श्रेष्ठ भाग्य स्वत: ही अनुभूति करायेगी। जो सदा खुश है वह खुशनसीब है। बिना मेहनत, बिना इच्छा अथवा बिना कहने के सर्व प्राप्ति सहज होंगी। यह पाठ पक्का किया?

बापदादा देखते हैं आये किसलिए हैं, जाना कहाँ है और जा कहाँ रहे हैं? हद को छोड़ फिर भी हद में ही जाना तो बेहद का अनुभव कब करेंगे! बापदादा को भी बच्चों पर स्नेह होता है। रहम तो नहीं कहेंगे क्योंकि भिखारी थोड़ेही हो। दाता, विधाता के बच्चे हो, दु:खियों पर रहम किया जाता है। आप तो सुख स्वरूप सुख दाता के बच्चे हो। अब समझा क्या करना है? बापदादा इस वर्ष के लिए बार-बार भिन्न-भिन्न बातों में अटेन्शन दिला रहे हैं। इस वर्ष विशेष स्व पर अटेन्शन रखने का समय दिया जा रहा है। दुनिया वाले तो सिर्फ कहते हैं कि खाओ पियो मौज करो। लेकिन बापदादा कहते हैं- खाओ और खिलाओ। मौज में रहो और मौज में लाओ। अच्छा-

सदा अविनाशी बेहद की खुशी में रहने वाले, हर कर्म में खुशनसीब अनुभव करने वाले, सदा सर्व को खुशी का खजाना बांटने वाले, सदा खुशी की खुशबू फैलाने वाले,सदा खुशी के उमंग, उत्साह की लहरों में लहराने वाले, ऐसे सदा खुशी की झलक और फलक में रहने वाले, श्रेष्ठ लक्ष्य को प्राप्त करने वाले श्रेष्ठ आत्माओं को बापदादा का सदा होली और हैपी रहने की यादप्यार और नमस्ते।

पार्टियों से:-

1- प्रवृत्ति में रहते सदा न्यारे और बाप के प्यारे हो ना! कभी भी प्रवृत्ति से लगाव तो नहीं लग जाता? अगर कहाँ भी किसी से अटैचमेन्ट है तो वह सदा के लिए अपने जीवन का विघ्न बन जाता है इसलिए सदा निर्विघ्न बन आगे बढ़ते चलो। कल्प पहले मिसल अगंद बन अचल अडोल रहो। अगंद की विशेषता क्या दिखाई है? ऐसा निश्चयबुद्धि जो पांव भी कोई हिला न सके। माया निश्चय रूपी पांव को हिलाने के लिए भिन्न-भिन्न प्रकार से आती है। लेकिन माया हिल जाए आपका निश्चय रूपी पांव न हिले। माया स्वयं सरेण्डर होती है। आप तो सरेण्डर नहीं होंगे ना! बाप के आगे सरेण्डर होना, माया के आगे नहीं, ऐसे निश्चयबुद्धि सदा निश्चिन्त रहते हैं। अगर जरा भी कोई चिंता है तो निश्चय की कमी है। कभी किसी बात की थोड़ी सी भी चिंता हो जाती है – उसका कारण क्या होता, जरूर किसी न किसी बात के निश्चय में कमी है। चाहे ड्रामा में निश्चय की कमी हो, चाहे अपने आप में निश्चय की कमी हो, चाहे बाप में निश्चय की कमी हो। तीनों ही प्रकार के निश्चय में जरा भी कमी है तो निश्चिन्त नहीं रह सकते। सबसे बड़ी बीमारी है चिंता। चिंता के बीमारी की दवाई डाक्टर्स के पास भी नहीं है। टैप्रेरी सुलाने की दवाई दे देंगे लेकिन सदा के लिए चिंता नहीं मिटा सकेंगे। चिंता वाले जितना ही प्राप्ति के पीछे दौड़ते हैं उतना प्राप्ति आगे दौड़ लगाती है इसलिए सदा निश्चय के पांव अचल रहें। सदा एकबल एक भरोसा यहीं पांव है। निश्चय कहो, भरोसा कहो, एक ही बात है। ऐसे निश्चयबुद्धि बच्चों की विजय निश्चित है।

(2) सदा बाप पर बलिहार जाने वाले हो? जो भक्ति में वायदा किया था – वह निभाने वाले हो ना? क्या वायदा किया? सदा आप पर बलिहार जायेंगे। बलिहार अर्थात् सदा समर्पित हो बलवान बनने वाले। तो बलिहार हो गये या होने वाले हो? बलिहार होना माना मेरा कुछ नहीं। मेरा-पन समाप्त। मेरा शरीर भी नहीं। तो कभी देह अभिमान में आते हो? मेरा है तब देह-भान आता है। इससे भी परे रहने वाले इसको कहा जाता है – बलिहार जाना। तो मेरा-पन सदा के लिए समाप्त करते चलो। सब कुछ तेरा यही अनुभव करते चलो। जितना ज्यादा अनुभवी उतना अथॉरिटी स्वरूप। वह कभी धोखा नहीं खा सकते। दु:ख की लहर में नहीं आ सकते। तो सदा अनुभव की कहानियाँ सबको सुनाते रहो। अनुभवी आत्मा थोड़े समय में सफलता ज्यादा प्राप्त करती है। अच्छा।

विदाई के समय – 14 जनवरी मकर संक्रान्ति की यादप्यार

आज के दिन के महत्व को सदा खाने और खिलाने का महत्व बना दिया है। कुछ खाते हैं कुछ खिलाते हैं। वह तिल दान करते हैं या खाते हैं। तिल अर्थात् बहुत छोटी-सी बिन्दी, कोई भी बात होती है- छोटी-सी होती है तो कहते हैं यह तिल के समान है और बड़ी होती है तो पहाड़ के समान कहा जाता है। तो पहाड़ और तिल बहुत फर्क हो जाता है ना। तो तिल का महत्व इसलिए है क्योंकि अति सूक्ष्म बिन्दी बनते हो। जब बिन्दी रूप बनते हो तभी उड़ती कला के पतंग बनते हो। तो तिल का भी महत्व है। और तिल सदा मिठास से संगठन रूप में लाते हैं, ऐसे ही तिल नहीं खाते हैं। मधुरता अर्थात् स्नेह से संगठित रूप में लाने की निशानी है। जैसे तिल में मीठा पड़ता है तो अच्छा लगता है, ऐसे ही तिल खाओ तो कड़ुवा लगेगा लेकिन मीठा मिल जाता है तो बहुत अच्छा लगेगा। तो आप आत्मायें भी जब मधुरता के साथ सम्बन्ध में आ जाती हो, स्नेह में आ जाती हो तो श्रेष्ठ बन जाती हो। तो यह संगठित मधुरता का यादगार है। इसकी भी निशानी है। तो सदा स्वयं को मधुरता के आधार से संगठन की शक्ति में लाना बिन्दी रूप बनना और पतंग बन उड़ती कला में उड़ना, यह है आज के दिन का महत्व। तो मनाना अर्थात् बनना। तो आप बने हो और वह सिर्फ थोड़े समय के लिए मनाते हैं। इसमें दान देना अर्थात् जो भी कुछ कमजोरी हो उसको दान में दे दो। छोटी-सी बात समझकर दे दो। तिल समान समझकर दे दो। बड़ी बात नहीं समझो- छोड़ना पड़ेगा, देना पड़ेगा, नहीं। तिल के समान छोटी-सी बात दान देना, खुशी खुशी छोटी-सी बात समझकर खुशी से दे दो। यह है दान का महत्व। समझा।

सदा स्नेही बनना, सदा संगठित रूप में चलना और सदा बड़ी बात को छोटा समझ समाप्त करना। आग में जला देना, यह है महत्व। तो मना लिया ना। दृढ़ संकल्प की आग जला दी। आग जलाते हैं ना इस दिन। तो संस्कार परिवर्तन दिवस, वह संक्रान्ति कहते हैं, आप संस्कार परिवर्तन कहेंगे। अच्छा – सभी को स्नेह और संगठन की शक्ति में सदा सफल रहने की यादप्यार और गुडमार्निग।

वरदान:- सदा भगवान और भाग्य की स्मृति में रहने वाले सर्वश्रेष्ठ भाग्यवान भव
संगमयुग पर चैतन्य स्वरूप में भगवान बच्चों की सेवा कर रहे हैं। भक्ति मार्ग में सब भगवान की सेवा करते लेकिन यहाँ चैतन्य ठाकुरों की सेवा स्वयं भगवान करते हैं। अमृतवेले उठाते हैं, भोग लगाते हैं, सुलाते हैं। रिकार्ड पर सोने और रिगार्ड पर उठने वाले, ऐसे लाडले वा सर्व श्रेष्ठ भाग्यवान हम ब्राह्मण हैं – इसी भाग्य की खुशी में सदा झूलते रहो। सिर्फ बाप के लाडले बनो, माया के नहीं। जो माया के लाडले बनते हैं वह बहुत लाडकोड करते हैं।
स्लोगन:- अपने हर्षितमुख चेहरे से सर्व प्राप्तियों की अनुभूति कराना – सच्ची सेवा है।

 

सूचनाः- आज अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस तीसरा रविवार है, सायं 6.30 से 7.30 बजे तक सभी भाई बहिनें संगठित रूप में एकत्रित हो प्रभु प्यार में समाने का अनुभव करें। सदा इसी स्वमान में बैठें कि मैं आत्मा सर्व प्राप्तियों से सम्पन्न सर्वश्रेष्ठ भाग्यवान आत्मा हूँ। प्यार के सागर बाप के प्यार की किरणें निकलकर मुझ आत्मा में समाती जा रही हैं। वही प्यार के वायब्रेशन चारों ओर वातावरण में फैल रहे हैं।

TODAY MURLI 17 MAY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 17 May 2020

17/05/20
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
13/01/86

Brahmin life, a life of constant, unlimited happiness.

Today, BapDada is looking at the gathering of His holy and happy swans. Do all of you always remain happy as well as holy? Holy means the visible form of purity and is constantly revealed in the form of happiness. If there isn’t happiness, there is definitely some impurity, that is, some thoughts or deeds are not correct and this is why there isn’t happiness. Impurity does not just mean the five vices. For perfect souls, for those who are to become deity souls, to have incorrect, wasteful or ordinary thoughts, words and actions is not complete purity. You are coming close to your perfect stage. Therefore, according to the present time, let there be no wasteful or ordinary actions. There has to be checking and changing in this too. The more powerful and elevated your thoughts, words and actions are, the more you will experience the sparkle of happiness and the intoxication of being fortunate – and also give that experience to others. BapDada was checking these two things in all the children: to what extent have you imbibed purity; to what extent is there still anything wasteful or ordinary? And, to what extent do you have spiritual happiness, imperishable happiness and inner happiness? The aim of all the Brahmin children who adopt this Brahmin life is to remain constantly happy. You have become Brahmins in order to lead a life of happiness. You have not become Brahmins to make effort laboriously or always to be experiencing one form of upheaval or another.

You have become Brahmins in order to attain spiritual, inner happiness and supersensuous joy which cannot be attained throughout the rest of the whole cycle. However, you have to check that your happiness is not based on any facilities, limited attainment, temporary success, respect or glory, or limited desires of the mind you have received, or because you like a particular person, place or possession. Check that your happiness is not based on your personal likings. The happiness based on those things is not real happiness; it is not imperishable happiness. If the support shakes, your happiness also shakes. You have not become Brahmins to attain that sort of happiness. Even people of the world have happiness based on temporary attainments. Their slogan is also: Eat, drink and be merry! However, when that temporary support ends, their happiness also ends. In Brahmin life too, if you experience happiness based on those supports, then what is the difference? You have become the children of the Ocean of Happiness and you are therefore those who flow with the waves of happiness in every thought and at every second. You are constant treasures of happiness. This is called being a holy and happy swan. BapDada was seeing that your aim is to have constant inner happiness without any limited support. However, some children move away from their aim and instead become trapped in the small side streets of limited attainments. In this way they become distant from their aim, that is, from their destination. They leave the highway and become trapped in the side streets. They leave their aim of happiness and chase after limited attainments. If, today, their name is glorified or their work is accomplished and their desires are fulfilled, then they are happy. If they attain something they like or their thoughts are fulfilled, then they are very happy. If there is something lacking even slightly, they become stuck and their aim remains on one side. Their aim becomes limited and they therefore step away from unlimited, imperishable happiness. So, BapDada was asking: Is this why you have become Brahmins? Is this why you have adopted this spiritual life? That is an ordinary life! That is not called an elevated life.

No matter what work you do, no matter how big the service task is that you are carrying out, anything that brings you down from attaining inner happiness, spiritual pleasure and unlimited happiness, that is, anything that brings you into the limited that, if today there is pleasure and tomorrow there is confusion, today there is happiness and tomorrow you are put into a turmoil, if it deprives you of happiness then put aside that service but do not let go of your happiness. Real service always gives you the experience of an unlimited stage and unlimited happiness. If there isn’t this experience, then that service is mixed. That is not real service. Always keep the aim of experiencing self-progress, attainment for the self, contentment and greatness by doing service. Where there is the greatness of contentment, there will be the experience of imperishable attainment. Service means to enable the flower garden to flourish. Service means to experience the flower garden and not to become trapped in the jungle of thorns. Some lack of attainment, lack of pleasure or confusion in the mind – to experience pleasure one moment and to become confused the next – these are thorns. To step away from these thorns means to experience unlimited happiness. No matter what happens, even if you have to renounce some limited attainment, even if you have to renounce many things, let go of those things, but do not let go of your happiness. Do not step away from the aim with which you came here. Carry out this subtle checking. You are happy, but make sure that you do not consider happiness based on temporary attainments to be your happiness. Check that you do not consider any sidescenes to be your destination, for sidescenes can be very attractive. However, to reach your destination means to claim a right to the unlimited kingdom. Those who step aside from their destination cannot claim a right to the kingdom of the world. They cannot even become part of the royal family. Therefore, always keep your aim and destination in your awareness. Ask yourself: While moving along, I haven’t gone into any limited streets, have I? The happiness of temporary attainment is not making you step away from the fortune of eternal happiness, is it? You are not those who are happy with just a little, are you? You are not just pleasing yourself, thinking, “Whatever I am, however, I am, I am fine and I am happy”, are you? The sign of imperishable happiness is that you will definitely constantly be attaining blessings of happiness from others. The blessings of love from BapDada and the seniors will give you the experience of internally moving along in an ocean of alokik and spiritual happiness. Out of carelessness, do not think: I am fine, but others do not know me. Can the light of the sun remain hidden? The fragrance of truth can never end. It cannot remain hidden. Therefore, never allow yourself to be deceived. Make this lesson firm. First is your unlimited, imperishable happiness and next is anything else. Unlimited happiness will automatically enable you to experience the elevated fortune of service, of everyone’s love and the fortune of receiving imperishable respect from everyone. Those who are constantly happy are fortunate. They easily receive all attainments without effort, without any desires and without saying anything. Have you made this lesson firm?

BapDada is seeing why you have come, where you have to go to and where you are going. If you have renounced the limited but are still going into the limited, then when will you experience the unlimited? BapDada has love for you children. You would not call it mercy because you are not beggars. You are the children of the Bestower and the Bestower of Fortune. Mercy is for those who are sorrowful. You are embodiments of happiness, children of the Bestower of Happiness. Do you now understand what you have to do? This year, BapDada is repeatedly drawing your attention to various things. This year is especially being given to pay attention to the self. People of the world simply say, “Eat, drink and be merry!” However, BapDada says: Eat and serve others. Stay in pleasure and bring pleasure to others. Achcha.

To those who constantly stay in imperishable and unlimited happiness, to those who experience the fortune of happiness in every act, to those who distribute the treasure of happiness to everyone, to those who always spread the fragrance of happiness, to those who always move along with waves of zeal and enthusiasm of happiness, to those who constantly maintain their sparkle and intoxication, to the elevated souls who attain the elevated aim, BapDada’s love, remembrance and namaste to keep you constantly holy and happy.

BapDada meeting groups:

Whilst living with your families, you are always detached and loving to the Father, are you not? You are never attached to your families, are you? If there is attachment to anyone, that becomes an obstacle in your life for all time. Therefore, remain constantly free from obstacles and continue to move forward. Become Angad as in the previous cycle and remain unshakeable and immovable. What speciality is Angad shown to have? His intellect had such faith that no one could even shake his foot. Maya will come in various ways to try and make your faith, in the form of your foot, shake. However, Maya may shake but the foot of your faith must not shake. Maya surrenders herself to you. You will not surrender to her, will you? Surrender yourself to the Father, not to Maya. Those whose intellects have such faith always remain carefree. If there is the slightest worry, then faith is lacking. When there is sometimes the slightest worry about something, the reason for that is definitely a lack of faith in something or other, whether it is a lack of faith in the drama, a lack of faith in oneself or a lack of faith in the Father. If there is the slightest lack of faith in any one of the three types of faith, you cannot remain carefree. The biggest illness is worry. Even doctors don’t have any cure for the illness of worry. They might give you sleeping pills to put you to sleep temporarily, but they will not be able to cure your illness for all time. The more those with worry run after some attainment, the more that attainment runs ahead of them. Therefore, always let the foot of your faith remain unshakeable. The foot means constantly to have one strength and one support. Whether you call it strength or faith, it is the same thing. Victory for the children whose intellects have such faith is guaranteed.

2. Do you always surrender yourselves to the Father? You are the ones who will fulfil the promise you made on the path of devotion, are you not? What did you promise? That you will always surrender yourself to Him. To surrender means to remain constantly surrendered and become powerful. So, have you surrendered or are you going to surrender? To surrender means “Nothing is mine.” The consciousness of “mine” finishes. Even the body is not “mine”. So, do you ever become body conscious? It is when you have the consciousness of “mine” that there is body consciousness. To remain beyond even this consciousness means to surrender. Therefore, continue to finish the consciousness of “mine” for all time. Continue to experience everything as “Yours”. The more experienced you become, the more you become an embodiment of authority. Such ones can never be deceived. They cannot experience waves of sorrow. So always continue to relate stories of your experience to everyone. An experienced soul attains greater success in a short time. Achcha.

At the time of farewell, giving love and remembrance for the 14th January (Makar-sankranti) festival of kite flying.

People have marked the significance of this day by always eating and serving food to others. They eat something and they serve others something. They either donate sesame seeds or eat them. ‘Sesame seeds’ are very tiny points. When something happens, and it may be something very minor, they say that it is like a sesame seed. If it is big, it is said to be like a mountain. So, there is a great difference between a mountain and a sesame seed. Significance is given to sesame seeds, because you become extremely subtle points. It is when you become point-forms that you become kites in the flying stage. So, sesame seeds also have significance. Sesame seeds are always mixed together with something sweet; sesame seeds are never eaten by themselves. Sweetness is a sign of bringing them together with love. When something sweet is mixed with the seeds, you enjoy them. If you were to eat the sesame seeds by themselves, you would find them bitter, but when something sweet is mixed with them, they are very good. So, when you souls come into a relationship with sweetness, when you have that love, you become elevated. So, this is a memorial of collective sweetness. There is a symbol for that too. So, always bring the power of the gathering into yourself. On the basis of sweetness, become a point-form and be a kite and fly in the flying stage. That is the significance of this day. So, to celebrate means to become. You become this whereas those people simply celebrate it for a short time. To donate here means to donate whatever weaknesses you have. Just consider it to be something minor and donate it. Consider it to be like a sesame seed and give it away. Do not consider it to be something major and think, “I have to renounce it, I have to give it away.” No. Donate it whilst considering it to be something as small as a sesame seed. Consider it to be something minor and give it away happily. This is the significance of donating. Do you understand?

Always be loving, always remain part of the gathering and always consider something major to be something minor and finish it, by burning it in a fire. That is the signifance. So, you have celebrated, have you not? You have lit the fire of determined action. People especially light a fire on this day. So, this is the day for transforming sanskars. They call it “sankranti” and you call it the day for transforming sanskars. Achcha, love, remembrance and good morning to everyone for remaining constantly successful with love and the power of the gathering.

Blessing: May you constantly stay in the awareness of God and your fortune and become a most elevated, fortunate soul.
At the confluence age, God serves His children in the living form. On the path of devotion, everyone serves God, but here, God Himself serves you living idols. He awakens you at amrit vela, offers bhog to you and puts you to sleep. Those who go to sleep with the record (song played at night) and those who awaken to the record (amrit vela song) – “We Brahmins are especially loved and are the most elevated fortunate souls” – constantly continue to swing in the happiness of this fortune. Simply become those who are especially loved by the Father, not by Maya. Those who are loved by Maya play a lot of childish games.
Slogan: To give the experience of all attainments with your cheerful face is real service.

 

*** Om Shanti ***

Notice: Today is international yoga day, the third Sunday of the month. From 6.30 pm – 7.30 pm, all brothers and sisters, experience being merged in God’s love. Always sit in the awareness: I, the soul, am full with all attainments and am the most fortunate soul. Rays of love are emerging from the Ocean of Love and merging in myself, the soul. Those vibrations of love are spreading everywhere into the atmosphere.

TODAY MURLI 17 MAY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 17 May 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 16 May 2019 :- Click Here

17/05/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, remembrance begets remembrance. The Father also experiences the pull of the children who remember Him with love.
Question: What are the signs of your stage becoming mature? What is the effort to reach that stage?
Answer: When you children reach your mature stage, all your physical organs will become calm. You won’t perform any wrong deeds through your physical organs. Your stage will become unshakeable and immovable. By having an unshakeable stage at this present time, your physical organs will be controlled for 21 births. In order to reach this stage, check yourself. By noting it down you will be cautious. Only with the power of yoga can you control your physical organs. Yoga alone will make your stage mature.

Om shanti. This is the pilgrimage of remembrance. All the children stay on this pilgrimage of remembrance. It is just you children who are close by here. Similarly, wherever the children are, they remember the Father and so He automatically comes close. In the same way, as some stars are very close to the moon, they sparkle very brightly. Some are close and others are far away. You can see that a particular star is sparkling very brightly because it is very close and that another one is not sparkling at all. You are also praised: You are the stars of knowledge and yoga. You children have found the Sun of Knowledge. The Father only remembers the serviceable children. The Father is the Almighty Authority. When you remember that Father, that remembrance begets remembrance. Wherever there are such serviceable children, the Father, the Sun of Knowledge, remembers them. Children also remember Him. The Father doesn’t remember the children who don’t remember Him. The Father’s remembrance doesn’t reach them. Remembrance definitely begets remembrance. Children also have to remember Baba. Children ask: Baba, do You remember me? The Father says: Why not? Why would the Father not remember you in this way? Those who are very pure and have a lot of love for the Father also pull Him in that way. Each one of you can ask yourself: To what extent do I remember Baba? By staying in remembrance of the One, you forget this old world. You remember the Father and then go and meet Him. The time to meet Him has now come. The Father has also explained the secrets of the drama to you. The Father comes and makes you children His spiritual children. He teaches you how to become pure from impure. The Father is only One and everyone remembers Him. However, everyone receives that remembrance, numberwise, according to their own efforts. The more you remember Him, the more it is as though Baba is standing in front of you. This is how you will reach your karmateet stage. The more you remember Baba, the less mischief your physical organs will cause. When the physical organs cause mischief – that is called Maya. No bad deeds must be performed through the physical organs. Here, you have to conquer the physical organs with the power of yoga. Those people control their organs with drugs. Children ask: Baba, why can I not control these organs? The Father says: The more you remember Baba, the more your physical organs will be controlled. This is called the karmateet stage. This can only be achieved by having the pilgrimage of remembrance. That is why ancient Raj Yoga of Bharat is remembered. Only God can teach that. God teaches His children. You have to make effort to conquer those vicious physical organs with the power of yoga. You will become perfect by the end. When you reach your stage of maturity, none of your physical organs will cause mischief. By your ending all mischief now, none of your physical organs will then deceive you for 21 births. Your physical organs are then controlled for 21 births. The main thing is lust. By having remembrance, your physical organs will be controlled. By controlling your physical organs now, you receive a prize for half the cycle. If you are unable to control them, sins still remain. Your sins will continue to be cut away with the power of yoga; you will continue to become pure. This is the number one subject. You call out to the Father in order to become pure from impure. So, the Father Himself comes and purifies you. The Father alone is knowledge-full. The Father says: Consider yourself to be a soul and remember the Father. This too is knowledge. One is the knowledge of yoga and the other is the knowledge of the cycle of 84. There are two types of knowledge and the subject of divine virtues is automatically merged in those. You children know that you are changing from human beings into deities and so you definitely have to imbibe divine virtues. You have to check yourself. By noting that down, you will remain cautious with yourself. By checking yourself, you won’t make any mistakes. The Father Himself says: Constantly remember Me alone. You called out to Me because you knew that Baba was the Purifier. Only when He comes, does He give you these directions. You souls now have to put these directions into practice. You play partsthrough those bodies. So, the Father definitely has to enter this one. These are very wonderful things. The picture of the Trimurti is so clear! Brahma does tapasya and becomes that. Then, after 84 births, he becomes this. You should also keep this in your intellects: We Brahmins were deities and we then went around the cycle of 84 births. We have now come here to become deities once again. When the deity dynasty comes to an end, they are remembered on the path of devotion with a lot of love. The Father is now showing you the way to attain that status. Remembrance should also be very easy. You just need a golden vessel. The more effort you make, the more points will emerge. You will also continue to speak knowledge very well. You will feel as though Baba has entered you and is giving knowledge. Baba also helps a great deal. You also have to benefit others. That too is fixed in the drama. One second cannot be the same as another. Time continues to pass. How have so many years, so many months gone by? Time has continued to pass from the beginning. This secondwill then repeat after 5000 years. This too has to be understood well. You also have to remember the Father through which your sins can be absolved. There is no other method. Whatever you have been doing for all of this time was devotion. People say: God will give the fruit of devotion. What fruit will He give? When and how will He give that? They don’t know at all. When the Father comes to give the fruit, the One who gives and those who receive come together. That partof the drama continues to move forward. This is your final lifeof the whole drama. It is possible that someone would even shed his or her body. If they have to play other parts, they can also take birth. Those who have many karmic accounts could take another birth. Those who have many sins will repeatedly continue to take birth, one after another after another. He would enter a womb, experience sorrow, then shed that body and take another body. This is the condition people have when they sacrifice themselves at Kashi. There are many sins on their heads and there is no power of yoga. To sacrifice yourself at Kashi is to commit suicide of the body. The soul understands that he is committing suicide. You say: Baba, when You come, I will sacrifice myself to you. However, people sacrifice themselves on the path of devotion. That is devotion. Whatever you do – donations, charity, pilgrimages etc – who is that exchange with? With sinful souls. It is the kingdom of Ravan. The Father says: any exchange you have should be with caution. If something is used for anything wrong, then that will be accumulated on your head. You have to make donations and perform charity with great caution. Donations of food and clothes are made to the poor. Nowadays, they build dharamshalas and give to people there. Wealthy ones have huge palaces. For the poor, there are huts; they live beside dirty canals. That dirt is used to make fertilizer which is then sold and used on the fields etc. In the golden age, there won’t be fields with such rubbish. There will be fresh soil there. Its very name is Paradise. The names of the different gems have been remembered. Some do so much service and others do little service. Some say: I cannot do service. All are Baba’s jewels, but, in that too, they are numberwise, according to their efforts, and they will then be worshipped. It is the deities who are worshipped. On the path of devotion there are many types of worship. All of that is fixed in the drama and you enjoy yourselves on seeing it. We are actors. You receive knowledge at this time. You are very happy. You know that there is also the part of devotion. Even in devotion, people become very happy. Their guru would ask them to turn the beads of a rosary and they would continue to do that in great happiness, without any understanding. Shiva is incorporeal. Why do people offer Him milk and water etc? They offer bhog to the idols, but those idols don’t eat anything. There is so much expansion of the path of devotion. Devotion is the tree whereas knowledge is the seed. No one except you children knows the Creator or the creation. Some children even sacrifice their bones in service for this. Some say to you that this is your imagination. Ah! but this is the repetition of the history and geography of the world. Imagination cannot repeat. This is knowledge. These are new things for the new world. God speaks: God is new and His elevated versions are also new. Those people say that God Krishna speaks whereas you say that God Shiva speaks. Each one says his own thing. No two things are the same. This is a study. You study at school, where there is no question of imagination. The Father is the Ocean of Knowledge, knowledge-full. Rishis and munis say that they don’t know the Creator or creation, so how can they receive this knowledge from anywhere since even those of the original, eternal, deity religion do not know it? Those who knew it attained a status. The Father comes and explains when the confluence age comes. New ones become confused by these things. They say: Is it just the few of you who are right and everyone else is wrong? You explain that they have falsified the Gita. That is the mother and father; all the rest are its creation. You cannot receive the inheritance through them. There cannot be knowledge of the Creator or creation in the Vedas or scriptures. First of all, tell us which religion was established through the Vedas? There are four main religions and each religion only has one religious scripture. The Father is establishing the Brahmin clan. Brahmins then claim their status in the sun and moon dynasties. The Father comes and explains to you personally through this chariot. Since the soul is incorporeal, a chariot is definitely needed. He takes a corporeal body. If people don’t know what a soul is, how would they know the Father? Only the Father tells you what is right. All the rest of what others tell you is unrighteouand there is no benefit in it. They don’t know anything about the ones whose rosary of beads they turn. They don’t even know the Father. The Father Himself comes and gives His own introduction. There is salvation through knowledge. For half the cycle there is knowledge and for half the cycle there is devotion. Devotion begins with the kingdom of Ravan. You continued to come down the ladder through devotion and became tamopradhan. People don’t know the occupation of anyone. They worship God so much, but they don’t know anything at all. So, the Father explains: In order to claim such a high status, you have to consider yourself to be a soul and remember the Father. This requires effort. If someone has a gross intellect, he can remember with a gross intellect, but he should only remember the One. You sing: Baba, when You come, I will connect my intellect in yoga to You alone. The Father has now come. Whom have all of you come to meet? The One who gives the donation of life and who takes souls to the land of immortality. The Father has explained that He enables you to gain victory over death. I take you to the land of immortality. They show God telling Parvati the story of immortality. The Lord of Immortality is only the One. He would not sit in the Himalayas and tell you a story. Everything of the path of devotion seems like a wonder! Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become a conqueror of your physical organs with the power of yoga and become completely pure. In order to attain that stage, continue to check yourself.
  2. Always keep it in your intellect that you were Brahmins who became deities. You have now come here to become deities again. This is why you have to understand about sin and charity and be very cautious if you have an exchange with others.
Blessing: May you be a contented soul and remain constantly full by keeping all your attainments emerge in your awareness.
Keep all the attainments you have received from BapDada at the confluence age emerged in your awareness, and the happiness of the attainments will prevent you from coming down into any upheaval. You will remain constantly unshakeable. Fullness makes you unshakeable and frees you from upheaval. Those who are full of all attainments are constantly happy and content. Contentment is the biggest treasure of all. Those who have contentment have everything. They continue to sing the song: I have attained what I wanted to attain!
Slogan: Sit in the swing of love and all hard work will automatically finish.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 17 MAY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 17 May 2019

To Read Murli 16 May 2019 :- Click Here
17-05-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – याद से याद मिलती है, जो बच्चे प्यार से बाप को याद करते हैं उनकी कशिश बाप को भी होती है”
प्रश्नः- तुम्हारे परिपक्व अवस्था की निशानी क्या है? उस अवस्था को पाने का पुरूषार्थ सुनाओ?
उत्तर:- जब तुम बच्चों की परिपक्व अवस्था होगी तो सब कर्मेन्द्रियां शीतल हो जायेगी। कर्मेन्द्रियों से कोई उल्टा कर्म नहीं होगा। अवस्था अचल-अडोल बन जायेगी। इस समय की अडोल अवस्था से 21 जन्म के लिए कर्मेन्द्रियाँ वश हो जायेंगी। इस अवस्था को पाने के लिए अपनी जांच रखो, नोट करने से सावधान रहेंगे। योगबल से ही कर्मेन्द्रियों को वश करना है। योग ही तुम्हारी अवस्था को परिपक्व बनायेगा।

ओम् शान्ति। यह है याद की यात्रा। सभी बच्चे इस यात्रा पर रहते हैं, सिर्फ तुम यहाँ नज़दीक में हो। जो जो जहाँ भी हैं बाप को याद करते हैं, तो वह ऑटोमेटिकली नज़दीक आ जाते हैं। जैसे चन्द्रमा के आगे कोई सितारे बहुत नज़दीक होते हैं, कोई बहुत चमकते हैं। कोई नज़दीक, कोई दूर भी होते हैं। देखने में आता है यह स्टॉर बहुत चमकता है। यह बहुत नज़दीक है, यह तो चमकता ही नहीं है। तुम्हारा भी गायन है। तुम हो ज्ञान और योग के सितारे। ज्ञान सूर्य मिला है बच्चों को। बाप बच्चों को ही याद करते हैं। जो सर्विसएबुल बच्चे हैं। बाप है सर्वशक्तिमान्। उस बाप को ही याद करते हैं, तो याद से याद मिलती है। जहाँ-जहाँ ऐसे-ऐसे सर्विसएबुल बच्चे हैं तो ज्ञान सूर्य बाप भी उन्हों को याद करते हैं। बच्चे भी याद करते हैं। जो बच्चे याद नहीं करते उनको बाप भी याद नहीं करते। उनको बाप की याद भी नहीं पहुँचती है। याद से याद जरूर मिलती है। बच्चों को भी याद करना है। बच्चे पूछते हैं – बाबा, आप हमको याद करते हैं? बाप कहते हैं क्यों नहीं। इस रीति बाप क्यों नहीं याद करते। जो जास्ती पवित्र हैं और बाप से बहुत प्यार है तो कशिश भी ऐसे करते हैं। हरेक अपने से पूछे कि हम कहाँ तक बाबा को याद करते हैं? एक की याद में रहने से फिर यह पुरानी दुनिया भूल जाती है। बाप को ही याद करते-करते जाकर मिलते हैं। अब मिलने का समय आया हुआ है। ड्रामा का राज़ भी बाप ने समझाया है। बाप आते हैं आकर बच्चों को अपना रूहानी बच्चा बनाते हैं। पतित से पावन कैसे बनो – सो सिखाते हैं। बाप तो एक ही है उनको ही सब याद करते हैं। परन्तु याद सबको नम्बरवार अपने-अपने पुरूषार्थ अनुसार मिलती है। जितना बहुत याद करेंगे वह जैसेकि सामने खड़े हैं। कर्मातीत अवस्था भी ऐसे होनी है। जितना याद करेंगे कर्मेन्द्रियाँ चंचल नहीं होगी। कर्मेन्द्रियाँ चंचल बहुत होती हैं ना, इसको ही माया कहा जाता है। कर्मेन्द्रियों से कुछ भी खराब कर्म न हो। यहाँ योगबल से कर्मेन्द्रियों को वश करना है। वो लोग तो दवाइयों से वश करते हैं। बच्चे कहते हैं – बाबा, यह क्यों नहीं वश होती हैं? बाप कहते हैं तुम जितना याद करेंगे उतना कर्मेन्द्रियाँ वश हो जायेंगी। इसको कहा जाता है कर्मातीत अवस्था। यह सिर्फ याद की यात्रा से ही होता है इसलिए भारत का प्राचीन राजयोग गाया हुआ है। सो तो भगवान् ही सिखलायेंगे। भगवान् सिखलाते हैं अपने बच्चों को। तुम्हें इन विकारी कर्मेन्द्रियों पर योगबल से जीत पाने का पुरूषार्थ करना है। सम्पूर्ण पिछाड़ी में होंगे। जब परिपक्व अवस्था होगी फिर कोई भी कर्मेन्द्रियाँ चंचलता नहीं करेंगी। अभी चंचलता बन्द होने से फिर 21 जन्म के लिए कोई भी कर्मेन्द्रिय धोखा नहीं देगी। 21 जन्म के लिए कर्मेन्द्रियाँ वश हो जाती हैं। सबसे मुख्य है काम। याद करते-करते कर्मेन्द्रियाँ वश होती जायेंगी। अभी कर्मेन्द्रियों को वश करने से आधाकल्प के लिए इनाम मिलता है। वश नहीं कर सकते हैं तो फिर पाप रह जाते हैं। तुम्हारे पाप योगबल से कटते जायेंगे। तुम पवित्र होते जाते हो। यह है नम्बरवन सब्जेक्ट। बुलाते भी हैं पतित से पावन होने लिए। तो बाप ही आकर पावन बनाते हैं।

बाप ही नॉलेजफुल है। बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझो, बाप को याद करो। यह भी नॉलेज है। एक है योग की नॉलेज, दूसरा है 84 जन्म के चक्र की नॉलेज। दो नॉलेज हैं। फिर उसमें दैवीगुण आटोमेटिकली मर्ज हैं। बच्चे जानते हैं हम मनुष्य से देवता बनते हैं तो दैवीगुण भी जरूर धारण करने हैं। अपनी जांच करनी है। नोट करने से अपने ऊपर सावधान रहेंगे। अपनी जांच रखेंगे तो कोई भूल नहीं होगी। बाप खुद कहते हैं – मामेकम् याद करो। तुमने ही मुझे बुलाया है क्योंकि तुम जानते हो बाबा पतित-पावन है, वह जब आते हैं तब ही यह डायरेक्शन देते हैं। अब इस डायरेक्शन पर अमल करना है आत्माओं को। तुम पार्ट बजाते हो इस शरीर द्वारा। तो बाप को भी जरूर इस शरीर में आना पड़े। यह बहुत वन्डरफुल बातें हैं। त्रिमूर्ति का चित्र कितना क्लीयर है। ब्रह्मा तपस्या कर यह बनते हैं। फिर 84 जन्मों के बाद यह बनते हैं। यह भी बुद्धि में याद रहे कि हम ब्राह्मण सो देवता थे फिर 84 का चक्र लगाया। अब फिर देवता बनने के लिए आये हैं। जब देवताओं की डिनायस्टी पूरी हो जाती है तो भक्ति मार्ग में भी बहुत प्रेम से उनको याद करते हैं। अब वह बाप तुमको यह पद पाने लिए युक्ति बताते हैं। याद भी बहुत सहज है, सिर्फ सोने का बर्तन चाहिए। जितना पुरूषार्थ करेंगे उतनी प्वाइंट्स इमर्ज होंगी। ज्ञान भी अच्छा सुनाते रहेंगे। समझेंगे जैसेकि बाबा हमारे में प्रवेश कर मुरली चला रहे हैं। बाबा भी बहुत मदद करते हैं। औरों का भी कल्याण करना है। वह भी ड्रामा में नूँध है। एक सेकण्ड न मिले दूसरे से। टाइम पास होता जाता है। इतने वर्ष, इतने मास कैसे पास होते हैं। शुरू से लेकर टाइम पास होता आया है। यह सेकण्ड फिर 5 हज़ार वर्ष बाद रिपीट करेंगे। यह भी अच्छी रीति समझना है और बाप को याद करना है जिससे विकर्म विनाश हों। और कोई उपाय नहीं। इतना समय जो कुछ करते आये हो वह सब थी भक्ति। कहते भी हैं भक्ति का फल भगवान् देंगे। क्या फल देंगे? कब और कैसे देते हैं? यह कुछ भी पता नहीं है। बाप जब फल देने के लिए आवे तब लेने वाले और देने वाले इकट्ठे हों। ड्रामा का पार्ट आगे चलता जाता है। सारे ड्रामा में अभी यह है अन्तिम लाइफ। हो सकता है कोई शरीर भी छोड़ दे। और कोई पार्ट बजाना है तो जन्म भी ले सकते हैं। किसका बहुत हिसाब-किताब होगा तो जन्म भी ले सकते हैं। किसके बहुत पाप होंगे तो घड़ी-घड़ी एक जन्म ले फिर दूसरा, तीसरा जन्म लेते छोड़ते रहेंगे। गर्भ में गया, दु:ख भोगा, फिर शरीर छोड़ दूसरा लिया। काशी कलवट में भी यह हालत होती है। पाप सिर पर बहुत हैं। योगबल तो है नहीं। काशी कलवट खाना – यह है अपने शरीर का घात करना। आत्मा भी समझती है यह घात करते हैं। कहते भी हैं – बाबा, आप आयेंगे तो हम आप पर बलिहार जायेंगे। बाकी भक्ति मार्ग में बलि चढ़ते हैं। वह भक्ति हो जाती है। दान-पुण्य, तीर्थ आदि जो कुछ भी करते हैं वह किससे लेन-देन होती है? पाप आत्माओं से। रावण राज्य है ना। बाप कहते हैं खबरदारी से लेन-देन करना। कहाँ कोई खराब काम में लगाया तो सिर पर बोझा चढ़ जायेगा। दान-पुण्य भी बड़ा खबरदारी से करना होता है। गरीबों को तो अन्न और कपड़े का दान किया जाता है वा आजकल धर्मशालायें आदि बनाकर देते हैं। साहूकारों के लिए तो बड़े-बड़े महल हैं। गरीबों के लिए हैं झोपड़ियाँ। वह तो गन्दे नाले के आगे रहे हुए हैं। उस किचड़े की खाद बनती है जो बिकती है, जिस पर फिर खेती आदि होती है। सतयुग में तो ऐसे किचड़े आदि पर खेती नहीं होती है। वहाँ तो नई मिट्टी होती है। उसका नाम ही है पैराडाइज़। नाम भी गाया हुआ है पुखराज परी, सब्ज परी। रत्न हैं ना। कोई कितनी सर्विस करते हैं, कोई कितनी करते हैं। कोई कहते हम सर्विस नहीं कर सकते हैं। बाबा के रत्न तो सभी हैं परन्तु उनमें भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार हैं जो फिर पूजे जाते हैं। पूजा होती है देवताओं की। भक्ति मार्ग में अनेक पूजायें होती हैं। वह सब ड्रामा में नूँध है, जिसको देखकर मजा आता है। हम एक्टर्स हैं। इस समय तुमको नॉलेज मिलती है। तुम बहुत खुश होते हो। जानते हो भक्ति का भी पार्ट है। भक्ति में भी बड़े खुश होते हैं। गुरू ने कहा माला फेरो। बस, उस खुशी में फेरते ही रहते हैं। समझ कुछ भी नहीं।

शिव निराकार है, उनको भला दूध पानी आदि क्यों चढ़ाते हैं? मूर्तियों को भोग लगाते हैं, वह कोई खाती थोड़ेही हैं। भक्ति का पेशगीर (विस्तार) कितना बड़ा है। भक्ति है झाड़, ज्ञान है बीज। रचता और रचना को सिवाए तुम बच्चों के और कोई नहीं जानते। कोई-कोई बच्चे तो अपनी हड्डियाँ भी इस सर्विस में स्वाहा करने वाले हैं। तुमको कोई कहते हैं यह तुम्हारी कल्पना है। अरे, यह तो वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी रिपीट होती है। कल्पना रिपीट थोड़ेही होती है। यह तो नॉलेज है। यह हैं नई बातें, नई दुनिया के लिए। भगवानुवाच। भगवान भी नया, उनके महावाक्य भी नये। वह कहते हैं कृष्ण भगवानुवाच। तुम कहते हो शिव भगवानुवाच। हरेक की अपनी-अपनी बातें हैं, एक न मिले दूसरे से। यह है पढ़ाई। स्कूल में पढ़ते हो। कल्पना की तो बात ही नहीं। बाप है ज्ञान का सागर, नॉलेजफुल। जबकि ऋषि-मुनि भी कहते हैं हम रचता रचना को नहीं जानते हैं। उन्हों को यह नॉलेज कहाँ से मिले जबकि आदि सनातन देवी-देवता ही नहीं जानते! जिन्हों ने जाना, उन्होंने पद पाया। फिर जब संगमयुग आये तब बाप आकर समझाये। नये-नये इन बातों में मूँझते हैं। कहते हैं – बस, तुम इतने थोड़े ही राइट हो, बाकी सब झूठे हैं। तुम समझाते हो गीता जो माई बाप है उसे ही खण्डन कर दिया है। बाकी सब तो रचना हैं। उनसे वर्सा मिल न सके। वेदों-शास्त्रों में रचता और रचना की नॉलेज हो न सके। पहले तो बताओ वेदों से कौन-सा धर्म स्थापन हुआ? धर्म तो हैं ही 4, हरेक धर्म का धर्मशास्त्र एक ही होता है। बाप ब्राह्मण कुल स्थापन करते हैं। ब्राह्मण ही फिर सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी कुल में अपना पद पाते हैं। बाप आकर तुमको सम्मुख समझाते हैं – इस रथ द्वारा। रथ तो जरूर चाहिए। आत्मा तो है निराकार। उनको साकार शरीर मिलता है। आत्मा क्या चीज़ है, उनको ही नहीं जानते तो बाप को फिर कैसे जानेंगे। राइट तो बाप ही सुनाते हैं। बाकी सब हैं अनराइटियस, जिससे फायदा कुछ भी नहीं। माला किसकी सिमरते हैं? कुछ पता नहीं। बाप को ही नहीं जानते। बाप खुद आकर अपना परिचय देते हैं। ज्ञान से सद्गति होती है। आधाकल्प है ज्ञान, आधाकल्प है भक्ति। भक्ति शुरू होती है रावण राज्य से। भक्ति से सीढ़ी उतरते-उतरते तमोप्रधान बन पड़े हैं। किसके भी आक्यूपेशन को नहीं जानते हैं। भगवान् की कितनी पूजा करते हैं, जानते कुछ भी नहीं। तो बाप समझाते हैं इतना ऊंच पद पाने के लिए अपने को आत्मा समझना है और बाप को याद करना है। इसमें है मेहनत। अगर किसकी बुद्धि मोटी है तो मोटी बुद्धि से याद करें। परन्तु याद एक को ही करें। गाते भी हैं बाबा आप आयेंगे तो आप से ही बुद्धियोग जोड़ेंगे। अब बाप भी आये हैं। तुम सब किससे मिलने आये हो? जो प्राण दान देते हैं। आत्मा को अमरलोक में ले जाते हैं। बाप ने समझाया है काल पर जीत पहनाता हूँ, तुमको अमरलोक में ले जाता हूँ। दिखाते हैं ना अमरकथा पार्वती को सुनाई। अब अमरनाथ तो एक ही है। हिमालय पहाड़ पर बैठ थोड़ेही कथा सुनायेंगे। भक्ति मार्ग की हर बात में वन्डर लगता है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) योगबल से कर्मेन्द्रिय जीत बन सम्पूर्ण पवित्र बनना है। इस अवस्था को पाने के लिए अपनी जांच करते रहना है।

2) सदा बुद्धि में याद रखना है कि हम ही ब्राह्मण सो देवता थे, अब फिर देवता बनने के लिये आये हैं इसलिए बहुत खबरदारी से पाप और पुण्य को समझकर लेन-देन करनी है।

वरदान:- सर्व प्राप्तियों को स्मृति में इमर्ज रख सदा सम्पन्न रहने वाली सन्तुष्ट आत्मा भव
संगमयुग पर बापदादा द्वारा जो भी प्राप्तियां हुई हैं उनकी स्मृति इमर्ज रूप में रहे। तो प्राप्तियों की खुशी कभी नीचे हलचल में नहीं लायेगी। सदा अचल रहेंगे। सम्पन्नता अचल बनाती है, हलचल से छुड़ा देती है। जो सर्व प्राप्तियों से सम्पन्न हैं वे सदा राज़ी, सदा सन्तुष्ट रहते हैं। सन्तुष्टता सबसे बड़ा खजाना है। जिसके पास सन्तुष्टता है उसके पास सब कुछ है। वह यही गीत गाते रहते कि पाना था वो पा लिया।
स्लोगन:- मुहब्बत के झूले में बैठ जाओ तो मेहनत आपेही छूट जायेगी।

TODAY MURLI 17 MAY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 17 May 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 16 May 2018 :- Click Here

17/05/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are rup and basant. You have to stay in remembrance of the Father and also sow seeds of the jewels of knowledge. You have to decorate Bharat too.
Question: Which finger do you children give to lift the iron-aged Goverdhan mountain?
Answer: That of purity. To make a promise for purity is like giving your finger. Because there hasn’t been purity, you can see the condition of Bharat. When there is purity, there is peaceprosperity and everything and this is why, according to shrimat, fire and cotton wool have to remain together and stay pure (pure while living together in your household). You don’t have to renounce your household.
Song: You are the fortune of tomorrow. 

Om shanti. Mothers, all of you brides heard this song. You children know that the fortune of Bharat has been crossed out. What has crossed out the fortune? Ravan, the five vices. You children are now once again creating the fortune of Bharat. You mothers are Shiv Shaktis. When the Ocean of Knowledge comes, He places the urn on you mothers. You children know that you are those who create the fortune of Bharat, that is, you are those who make Bharat into heaven. You are the Father’s army. You are the beauty of the Father’s house. When a couple don’t have children, their home feels empty. This world too now feels empty. You children are now going to make it into heaven. The Father says: I am the Slave of you mothers because you mothers were previously slaves of your husbands. The mothers were told: The husband of a Hindu woman is her guru, her god, her everything. In fact, they have taken the aspect of this time on to the path of devotion. At this time, you say to the Supreme Father, the Supreme Soul: You are the Mother and You are the Father. You alone are everything. However, Hindus have then said this of husbands. In fact, Shiv Baba is the Husband of all husbands. You become those who are never widowed and this Husband of yours is immortal. He is the Lord of Immortality. The Lord of Immortality is also making you into the masters of the land of immortality. You have to remember very much the Husband who teaches you and makes you into the masters of heaven. By forgetting such a Husband, you will end up weeping. The Father says: Has your husband died that you are weeping? You should now remain constantly cheerful. The faces of deities are constantly cheerful. People become happy just seeing them. Where did deities receive that happiness from? The Father made them so happy and cheerful at the confluence age. You now have to make effort because only then will you become imperishable. The Father says: There is no question of weeping. Wah! You have found such a handsome Bridegroom through whom you become the emperors and empresses of heaven! You have to continue to follow shrimat at every step. Every version you hear is worth a hundred thousand rupees. When those scholars relate the Gita or Vedanta, they say that each of those versions is worth a hundred thousand rupees. However, it is not like that. Each of you is rup and basant. The soul is rup and the Father is also Rup and then He is also called the Ocean of Knowledge. He is the One who rains knowledge on you. It is not a question of physical water. These are called the jewels of knowledge. Each one of you has to sow the seeds of the jewels of knowledge. You should explain to people: You are a soul and that is your body. You speak of sinful souls and charitable souls. You don’t say, sinful Supreme Soul or charitable Supreme Soul. This proves that God is not omnipresent. Maya makes you into sinful souls and the Father makes you into charitable souls. The world of charitable souls is called heaven and the world of sinful souls is called hell. Only the one Father, the Bestower of Salvation, is the One who purifies everyone. You children are the decoration of this unlimited home. You have to decorate Bharat. Paradise is called the Wonder of the World. People show seven physical wonders of the world. Those are created by human beings. In fact, the wonder of the world is Paradise where all souls remain constantly happy. They say: So-and-so became a resident of heaven. However, until the Father comes, no one can go back there. You children now know that you are going to Paradise. You see those physical wonders with your eyes, but you are going to go to Paradise and experience limitless happiness there. There is no question of weeping there. The Father says: Why do you brides of the Supreme Father, the Supreme Soul, weep? Perhaps you forget your Bridegroom? To forget your Bridegroom means to bid Him farewell. Constantly continue to remember Him and there won’t be anything to weep about. However, when someone’s relative dies, people weep. You are now taking leave while alive. You take leave from everyone. After weeping, you then laugh for all time because you are going to Paradise. There is no need to weep here. Baba has told you: Even if your mother dies you have to eat halva. Which halva? Halva of knowledge. Now, all are dead. Whom should you worry about and whom should you not worry about? All will die. There won’t be anyone left to carry out the final ceremonies. When so many died in Japan during the bombing, was there anyone left to carry out their burials etc? Even those who perform those ceremonies will die. That is a system of the path of devotion. Such things do not happen in the golden age. There is plenty of happiness there. The story of the king who conquered attachment refers to that place. You have been listening to that story for birth after birth. Now the Father says: Forget everything you have heard. Now listen to everything from the Father. Hear no evil, see no evil… Those people have created a toy with the faces of monkeys depicting this, “Speak no evil, see no evil  , because human beings at this time are even worse than monkeys. Whatever people are told, they continue to say “It’s true, it’s true!” Baba says: Children, don’t listen to defamatory things. I come at the confluence age of the cycle. The Father surely has to come, for only then could He give knowledge. People say that the rishis and munis were trikaldarshi. Baba says: Absolutely not! Even Lakshmi and Narayan were not trikaldarshi. Only you Brahmins are trikaldarshi. This 84th birth is your final one. It isn’t that these sanskars of knowledge will be with you in your next birth. No, they disappear. The kingdom there will have been established and so there will be no need for Raja Yoga. Therefore, just see what Baba says and what people say; there is the difference of day and night. People say that God is omnipresent whereas the Father says: No. People say that there are still 40,000 years of the iron age left, whereas the Father says: No. They have told so many lies and brought about extreme darkness. Now, the sweet Father says: Become very sweet. You children of God are in God’s court. Your duty is to have yoga. When you go to the Goverdhan mountain, there is an image of a finger. The mountain is worshipped so much. When Bharat becomes the golden age, that mountain is not worshipped. Therefore, that finger is a symbol of you. To make a promise for purity is like giving your finger to salvage Bharat. When there is purity, there is also peace and prosperity. Look at the condition of Bharat when there is no purity. This requires effort. Sannyasis have been saying that fire and cotton wool cannot live together. That is written in the scriptures. However, you can tell the sannyasis how you, the fire and cotton wool, live together and remain pure. Sannyasis do not receive shrimat. We are now following the Father’s shrimat. Those people receive directions from Shankaracharya whereas these are the directions of Shivacharya. You are the children of Shivacharya. No one knows this. They say that God is the Ocean of Knowledge and so He is the Teacher (Acharya). That one is Shankaracharya. Sannyasis receive a title by studying many scriptures. It is never said: Krishna-acharya. They don’t know about Shiva. They don’t know the Father at all. No one, apart from the Father, can be called the Ocean of Knowledge. When you meet a sannyasi, tell him: You are on the path of isolation, a hatha yoga sannyasi. We are the Raja Yogis who belong to the family path. You cannot teach Raja Yoga. You are rajoguni because Shankacharya came in the copper age. Yours is hatha yoga, the renunciation of karma. In fact, there cannot be renunciation of karma. You children now receive completely different directions. People want to live in peace. Tell them: Achcha, detach yourself from your organs. There won’t be benefit by simply detaching yourself. First detach yourself and then remember Me. Only then will your sins be absolved. Peace is the garland around your neck. The original religion of the soul is peace. We souls remain in silence in the incorporeal world. Then, in the subtle region, there is the movie. This physical world is the talkie. You children have had visions. Baba has seen a lot more. Mama didn’t see anything; she never went into trance. She became very clever in knowledge. You shouldn’t have any desire to go into trance. Look, Mama claimed a number so far in front even without visions. First, it is Shri Lakshmi and then Shri Narayan. For this one it is written: Arjuna had a vision of destruction and establishment. Shiv Baba, the Charioteer, is sitting in this chariot and giving you knowledge. This chariot also receives knowledge from that One. This one himself used to study the Gita. He used to hold many spiritual gatherings. Now he is amazed at everything that is in the scriptures. The Father says: Forget everything you have studied. Don’t listen to anything. While seeing, do not see. We are now going to Baba’s home, to our sweet home. Until the Guide and the Liberator comes, no one can go back. Only the one Father is the Guide and the Bestower of Liberation. He liberates you from sorrow and this is why He is called the Bestower of Liberation and Salvation. He is the Seed of the human world tree, the Supreme Soul. The incorporeal world is the place where souls reside. It isn’t that the brahm element is God and that souls merge into it. These are such wonderful matters! Your part s of 84 births are imperishable; they can never be erased. The world is created eternally. The golden age is called the new world. The world is now old, but it isn’t that the world is destroyed. The Father comes to make the impure world pure. The world always exists. It would definitely be just the deities who take 84 births and the others take fewer births. Then, you can also calculate about the Christians. In fact, the population of the people of Bharat should be very large but, because they have been converted into other religions, it has become small. They have given themselves the name, Hindus. The Father says: I come when I have to establish the deity religion through Brahma and carry out destruction through Shankar. Then, the one who establishes it will also sustain it. Those who helped Gandhiji and made so much effort are today very happy. Everyone there will be happy. However, there will be a difference in their status. Those who stay in remembrance of the Father and remember the inheritance will become part of the sun dynasty. Those who have less remembrance will become part of the moon dynasty. Otherwise, they will become subjects. Many maids and servants are also required. The Father has explained to you that anyone with the power of yoga can become a master of the world. You are the non-violent army who have the power of yoga. If Christians received this much power they could become the masters of the world. However, the law doesn’t say this. There is the story of the monkeys. The butter of the kingdom of the world is shown in Krishna’s mouth. So the kingdom of the world can only be claimed with the power of yoga. The Father says: I create heaven. This is the business of you children too; you children belong to the Father and help in establishing it. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Always remain cheerful and happy. Never weep. Take leave from everyone whilst you are alive. Don’t worry about anyone.
  2. Remain stable in your original religion of peace. Go fast with knowledge and yoga. Do not have any desire to go into trance.
Blessing: May you be raazyukt (knower of all secrets) and remain constantly happy and also keep the Father pleased with your honest heart.
The children who please the Father with their honest hearts receive from BapDada the blessing to remain constantly happy (raazi) and raazyukt with their own sanskars and with the gathering, that is, to know all the secrets about them. To know the secrets of your own sanskars and the sanskars of one another and to know about the adverse situations is the stage of being raazyukt. By giving your chart to the Father with an honest heart and by having loving heart-to-heart conversations, you experience constant closeness and the accounts of the past finish.
Slogan: Those who please the Bestower, the Bestower of Fortune and the Bestower of Blessings with their honest hearts stay in spiritual pleasure.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 17 MAY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 17 May 2018

To Read Murli 16 May 2018 :- Click Here
17-05-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम रूप बसन्त हो, तुम्हें बाप की याद में भी रहना है तो ज्ञान-रत्नों का बीज भी बोना है, भारत का श्रृंगार भी करना है”
प्रश्नः- तुम बच्चे कलियुगी गोवर्धन पर्वत को उठाने के लिए कौन-सी अंगुली देते हो?
उत्तर:- पवित्रता की। पवित्रता की प्रतिज्ञा करना ही जैसे अंगुली देना है। पवित्रता नहीं है तो भारत का हाल देखो क्या हो चुका है। पवित्रता है तो पीस-प्रासपर्टी सब है इसलिए श्रीमत पर आग और कपूस इकट्ठे रहते भी पवित्र बनना है (प्रवृत्ति में रहते पवित्र बनना है)। घरबार का सन्यास नहीं करना है।
गीत:- आने वाले कल की तुम तकदीर हो….. 

ओम् शान्ति। माताओं ने, सभी सजनियों ने यह गीत सुना। बच्चे जानते हैं इस भारत की तकदीर में लकीर लगी हुई है। किस द्वारा लकीर लगी है? 5 विकारों रूपी रावण द्वारा। अब फिर तुम बच्चे भारत की तकदीर बना रहे हो। तुम हो शिव शक्ति मातायें। जब ज्ञान सागर आते हैं तो माताओं के ऊपर कलष रखते हैं। तुम बच्चे जानते हो हम भारत की तकदीर बनाने अर्थात् भारत को स्वर्ग बनाने वाले हैं। तुम बाप की सेना हो। बाप के घर की शोभा हो। माँ-बाप के पास बच्चा नहीं होता है तो घर जैसे सूना लगता है। अब यह दुनिया सूनी-सूनी लगती है। अब तुम बच्चे इनको स्वर्ग बनाने वाले हो। बाप कहते हैं मैं तुम माताओं का गुलाम हूँ क्योंकि आगे यह मातायें पति की गुलाम थी। उनको कहा जाता है हिन्दू नारी का पति ही गुरू-ईश्वर सब कुछ है। वास्तव में इस समय की बात को फिर भक्ति मार्ग में ले गये हैं। परमपिता परमात्मा को ही इस समय कहा जाता है त्वमेव माताश्च पिता त्वमेव। सब कुछ एक है। हिन्दू लोगों ने फिर पति के लिए कह दिया है। वास्तव में शिवबाबा है पतियों का पति। तुम तो सदा सौभाग्यशाली बनती हो और यह पति भी अमर है, अमरनाथ है ना। तुमको भी अमरनाथ, अमरपुरी का मालिक बनाते हैं। ऐसे पति को बहुत याद करना है जो तुमको पढ़ाकर स्वर्ग का मालिक बनाते हैं। ऐसे पति को भूलने से रोना आ जाता है। बाप कहते हैं – क्या तुम्हारा साजन मर गया है जो तुम रोती हो! तुमको तो अभी सदैव हर्षितमुख रहना है। देवताओं का मुखड़ा सदैव हर्षित रहता है। मनुष्य देखने से ही खुश होते हैं। देवताओं ने वह खुशी कहाँ से लाई? संगम पर बाप ने ऐसा हर्षितमुख, खुशमिज़ाज़ बनाया था। अभी पुरुषार्थ करना है तब ही तो अविनाशी बनेंगे। बाप कहते हैं – रोने की बात ही नहीं है। वाह ऐसा सलोना साजन मिला है जिससे स्वर्ग के महाराजा-महारानी बनते हो। तुम श्रीमत पर कदम-कदम चलते रहो। तुम जो वर्शन्स सुनते हो वह एक-एक वर्शन्स लाख रूपये का है। वह विद्वान लोग गीता, वेदान्त आदि सुनाते हैं तो कहते हैं यह एक-एक वर्शन्स लाख रूपये का है। परन्तु ऐसा तो है नहीं।

तुम हरेक रूप-बसन्त हो। आत्मा रूप है ना। बाप भी है रूप, फिर उनको ज्ञान-सागर कहा जाता है। ज्ञान की वर्षा कराने वाला है। स्थूल पानी की बात नहीं, इसको तो ज्ञान-रत्न कहा जाता है। हरेक को यह ज्ञान-रत्नों का बीज बोना है। मनुष्यों को समझाना चाहिए कि तुम आत्मा हो, यह तुम्हारा शरीर है। तुम कहते हो पाप-आत्मा, पुण्य-आत्मा। पाप-परमात्मा, पुण्य-परमात्मा नहीं कहते हो। इससे सिद्ध है – परमात्मा सर्वव्यापी नहीं है। माया पाप-आत्मा बनाती है और बाप पुण्य-आत्मा बनाते हैं। पुण्य-आत्माओं की दुनिया को स्वर्ग और पाप-आत्माओं की दुनिया को नर्क कहा जाता है। सबको पावन बनाने वाला सद्गति-दाता एक ही बाप है। तो तुम बच्चे इस बेहद के घर के श्रृंगार हो। तुम्हें भारत का श्रृंगार करना है। वैकुण्ठ को वन्डर ऑफ दी वर्ल्ड कहा जाता है। मनुष्य 7 जिस्मानी वन्डर्स दिखाते हैं। वह तो हैं मनुष्य के बनाये हुए। वास्तव में वन्डर आफ दी वर्ल्ड है वैकुण्ठ, जहाँ सब आत्मायें सदा सुखी रहती हैं। गाते भी हैं फलाना स्वर्गवासी हुआ, परन्तु जब तक बाप न आये तब तक वहाँ कोई जा नहीं सकता। अब तुम बच्चे जानते हो – हम वैकुण्ठ में जाते हैं। वह जिस्मानी वन्डर्स ऑखों से देखने के हैं। तुमको तो वैकुण्ठ में जाकर अथाह सुख भोगना है। वहाँ रोने की बात नहीं। बाप कहते हैं तुम परमपिता परमात्मा की सजनी क्यों रोती हो। शायद साजन को भूल जाती हो। साजन को भूल जाना माना उनसे विदाई लेना। सदैव उनको याद करते रहो तो रोने की बात नहीं। बाकी किसका सम्बन्धी आदि मरता है तो रोते हैं। अब तुम जीते जी छुट्टी लेते हो। सबसे छुट्टी ले, रो-रोकर फिर सदा के लिए हँस पड़ते हो क्योंकि वैकुण्ठ में जाते हो। यहाँ तो रोने की दरकार नहीं। बाबा ने कहा है अम्मा मरे तो भी हलुआ खाना, कौन सा हलुआ? यह ज्ञान का। अब तो सब मरे पड़े हैं। किसका चिन्तन करें, किसका न करें – इतने सब मरेंगे। कोई क्रियाक्रम करने वाला भी नहीं रहेगा। जापान में बम से इतने मरे फिर किसने क्रियाक्रम किया। क्रियाक्रम करने वाले भी मर जायेंगे। यह तो भक्ति मार्ग की रसमरिवाज़ है। सतयुग में ऐसी बातें होती नहीं। वहाँ तो अथाह सुख है। मोहजीत राजा की कहानी भी वहाँ की है। तुमने जन्म-जन्मान्तर यह कथा सुनी है। अब बाप कहते हैं – जो कुछ सुना है वह भूल जाओ। अब सब बाप से सुनो। हियर नो ईविल, सी नो ईविल.. उन्होंने बन्दरों की शक्ल का एक खिलौना बनाया हुआ है। टॉक नो ईविल, सी नो ईविल…. क्योंकि इस समय मनुष्य बन्दर से भी बदतर हैं, जो सुनाओ सत-सत करते रहते हैं। बाबा कहते हैं – बच्चे, ग्लानी की बातें मत सुनो। मैं कल्प के संगमयुग पर आता हूँ। बाप को तो जरूर आना ही है तब तो नॉलेज दे। मनुष्य कहते ऋषि-मुनि आदि त्रिकालदर्शी थे। बाबा कहते – बिल्कुल नहीं। लक्ष्मी-नारायण भी त्रिकालदर्शी नहीं थे। त्रिकालदर्शी सिर्फ तुम ब्राह्मण बने हो। तुम्हारा यह 84 वाँ अन्तिम जन्म है। ऐसे नहीं यह ज्ञान के संस्कार दूसरे जन्म में रहेंगे। नहीं, यह प्राय:लोप हो जाते हैं। वहाँ तो राजाई स्थापन हो जाती है तो राजयोग की दरकार नहीं। तो देखो, बाबा क्या कहते, मनुष्य क्या कहते हैं। रात और दिन का अन्तर है। मनुष्य कहते परमात्मा सर्वव्यापी है, बाप कहते हैं नहीं। मनुष्य कहते हैं कलियुग की आयु अभी 40 हजार वर्ष पड़ी है, बाप कहते हैं नहीं। कितने गपोड़े सुनाए घोर अन्धियारा कर दिया है।

अब मीठा बाप कहते हैं – बहुत मीठा बनो। तुम ईश्वरीय दरबार में ईश्वर के बच्चे हो। तुम्हारा फ़र्ज है योग लगाना। गोवर्धन पर्वत पर जायेंगे तो वहाँ अंगुली दिखाई है। पर्वत की कितनी पूजा होती है। भारत जब गोल्डन एज बन जाता है तो उनकी पूजा नहीं होती। तो यह अंगुली है तुम्हारी निशानी। पवित्रता की प्रतिज्ञा करना जैसे अंगुली देना है – भारत को सैलवेज करने के लिए। पवित्रता है तो पीस प्रासपर्टी भी है। पवित्रता नहीं है तो भारत का हाल देखो क्या है। मेहनत है ना। सन्यासी कहते आये – आग और कपूस इकट्ठे रह नहीं सकते। शास्त्रों में ऐसा है। परन्तु तुम सन्यासियों को कह सकते हो कि हम कैसे आग कपूस इकट्ठे रहते पवित्र रहते हैं। सन्यासियों को श्रीमत थोड़ेही मिलती है। हम तो अब बाप की श्रीमत पर चलते हैं। उनको मिलती है शंकराचार्य की मत, यह है शिवाचार्य की मत। तुम शिवाचार्य के बच्चे हो। यह कोई नहीं जानते। कहते हैं परमात्मा ज्ञान का सागर है तो आचार्य हुआ ना। वह शंकराचार्य है। सन्यासी बहुत शास्त्र पढ़कर टाइटिल लेते हैं। कृष्ण आचार्य कभी नहीं कहा जाता है। शिव का पता ही नहीं। वह बाप को जानते ही नहीं हैं। सिवाए बाप के और किसी को ज्ञान का सागर नहीं कह सकते हैं। कोई सन्यासी मिले तो बोलो – तुम हो निवृत्ति मार्ग वाले हठयोग सन्यासी। हम हैं प्रवृत्ति मार्ग वाले राजयोगी। तुम राजयोग सिखला नहीं सकते हो। तुम हो रजोगुणी क्योंकि शंकराचार्य आते ही हैं द्वापर में। तुम्हारा है हठयोग कर्म सन्यास। वास्तव में कर्म सन्यास तो होता ही नहीं है। अब तुम बच्चों को डायरेक्शन ही कुछ और मिलता है। मनुष्य चाहते हैं शान्ति में रहें। बोलो – अच्छा, अपने को इन आरगन्स से डिटैच कर दो। परन्तु सिर्फ डिटैच करने से ही फ़ायदा नहीं होगा। डिटैच हो फिर मुझे याद करो तो विकर्म विनाश होंगे। शान्ति तो तुम्हारे गले का हार है। आत्मा का स्वधर्म है शान्ति। हम आत्मायें मूलवतन में साइलेन्स में रहती हैं। फिर सूक्ष्मवतन में है मूवी। यह है टाकी स्थूल वतन। तुम बच्चों ने साक्षात्कार किया है। बाबा ने जास्ती देखा है। मम्मा ने तो कुछ भी नहीं देखा, कभी भी ध्यान में नहीं गई। ज्ञान में कितनी तीखी गई। यह ध्यान की आश भी नहीं रखनी चाहिए। मम्मा देखो बिगर ध्यान के कितना आगे नम्बर लेती है। पहले श्री लक्ष्मी फिर श्री नारायण, इनके लिए लिखा हुआ है अर्जुन को विनाश स्थापना का साक्षात्कार हुआ। इस रथ में रथी शिवबाबा बैठ नॉलेज सुनाते हैं। इस रथ को भी नॉलेज उनसे मिलती है। यह खुद भी गीता पढ़ते थे। बहुत कथा करते थे। अब वन्डर लगता है – शास्त्रों में क्या-क्या है। बाप कहते हैं – यह पढ़ा हुआ सब भूल जाओ, सुनो नहीं, देखते हुए नहीं देखो। बस, हम तो जाते हैं बाबा के घर स्वीट होम। जब तक गाईड तथा लिबरेटर न आये तब तक कोई जा नहीं सकता। पण्डा और मुक्ति दाता तो एक ही बाप है। दु:खों से मुक्त कर देते हैं, इसलिए उनको गति-सद्गति दाता कहा जाता है। वह है मनुष्य सृष्टि का बीज रूप, सुप्रीम सोल। निराकारी दुनिया है आत्माओं के रहने का धाम। ऐसे नहीं कि ब्रह्म परमात्मा है, उसमें आत्मायें लीन हो जायेंगी। कितनी वन्डरफुल बातें हैं। तुम्हारा 84 जन्म का पार्ट अविनाशी है, यह कब मिट नहीं सकता। सृष्टि अनादि रची हुई है। सतयुग को नई सृष्टि कहा जाता है। अब है पुरानी सृष्टि। बाकी सृष्टि कोई विनाश नहीं होती। बाप आते ही हैं पतित सृष्टि को पावन बनाने। सृष्टि तो है ही है। 84 जन्म तो जरूर देवताओं के ही होंगे, फिर कम होते जाते हैं। फिर क्रिश्चियन आदि का भी हिसाब निकाल सकते हैं। वास्तव में भारतवासियों की जनसंख्या बहुत होनी चाहिए। परन्तु और और धर्मों में कनवर्ट होने कारण कम हो गये हैं। नाम ही हिन्दू रख दिया है। बाप कहते हैं मैं आता ही तब हूँ जब मुझे ब्रह्मा द्वारा देवी-देवता धर्म की स्थापना करनी है। शंकर द्वारा विनाश…. फिर जो स्थापना करते हैं वही पालना करेंगे। गाँधी जी को भी जिन्होंने मदद की, मेहनत की आज बहुत सुखी हैं। वहाँ सुखी तो सब बनेंगे। बाकी पद में फ़र्क पड़ जाता है। जो बाप की याद में रहते हैं और वर्से को याद करते हैं वह सूर्यवंशी बनेंगे। कम याद करेंगे तो चन्द्रवंशी, नहीं तो फिर प्रजा, दास-दासियाँ आदि तो बहुत चाहिए ना। बाप ने समझाया है योगबल से ही कोई भी विश्व का मालिक बन सकता है। तुम हो योगबल की अहिंसक सेना। क्रिश्चियन को भी इतना बल मिल जाए तो विश्व के मालिक बन सकते हैं। परन्तु लॉ नहीं कहता है। वह बन्दर की कहानी है ना। कृष्ण के मुख में माखन आ जाता है – विश्व की राजाई का। तो विश्व का राज्य योगबल से ही मिल सकता है। बाप कहते हैं मैं स्वर्ग रचता हूँ। तुम बच्चों का भी यही धन्धा है। बच्चे फिर बाप के बन स्थापना में मदद करते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सदा हर्षित, खुशमिज़ाज़ रहना है। कभी भी रोना नहीं है। जीते जी सबसे छुट्टी ले लेनी है। किसी का भी चिन्तन नहीं करना है।

2) अपने शान्ति स्वधर्म में स्थित रहना है। ज्ञान और योग से तीखा जाना है। ध्यान की आश नहीं रखनी है।

वरदान:- सच्ची दिल से बाप को राज़ी करने और सदा राज़ी रहने वाले राज़युक्त भव
जो बच्चे सच्ची दिल से बाप को राज़ी करते हैं, बापदादा उन्हें स्वयं के संस्कारों से, संगठन से सदा राज़ी अर्थात् राज़युक्त रहने का वरदान देते हैं। स्वयं के वा एक दो के संस्कारों के राज़ को जानना, परिस्थितियों को जानना, यही राज़युक्त स्थिति है। सच्चे दिल से बाप को अपना पोतामेल देने वा स्नेह की रूहरिहान करने से सदा समीपता का अनुभव होता है और पिछला खाता समाप्त हो जाता है।
स्लोगन:- सच्ची दिल से दाता, विधाता, वरदाता को राज़ी करने वाले ही रूहानी मौज में रहते हैं।
Font Resize