17 june ki murli

TODAY MURLI 17 JUNE 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 17 June 2020

17/06/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, even though you are far away, when you stay in remembrance you remain in His company. By having this remembrance you experience His companionship and your sins are also absolved.
Question: What knowledge does the Father who comes from the most distant land give you children to make you far sighted?
Answer: Only the Father, who is the Resident of the faraway land, can give you the knowledge of how souls enter the various castes in the cycle. You know that you now belong to the Brahmin caste. Previously, before you had this knowledge, you belonged to the shudra caste. Before that, you belonged to the merchant caste. The Father who resides in the faraway land has come and is giving you children the full knowledge to make you far sighted.
Song: The rain of knowledge is for those who are with the Beloved.

Om shanti. The rain of knowledge is for those who are with the Ocean of Knowledge. You are with the Father, are you not? Although you may be abroad or somewhere else, you are in His company. You do remember Him, do you not? The children who remain in remembrance of Him are always with Him. By remaining in this remembrance, you stay in His company and your sins are absolved. Then the time of Vikramajeet (the one who conquered the vices) begins. When Ravan’s kingdom begins, it is said to be the time of King Vikram (period of when sin was committed). One is the period of victory over vice and the other is the period of vice. You are now becoming conquerors of sinful acts. Later, you will become those who perform sinful acts. At present, everyone is extremely sinful. No one knows about their own religion. Today, Baba asks you a simple question: Do the deities of the golden age know that they belong to the original eternal deity religion? Just as you used to consider yourselves to belong to the Hindu religion, and others say that they belong to the Christian religion, similarly, would the deities there consider themselves to belong to the deity religion? This is something to think about. There is no other religion there, that anyone would consider himself as belonging to such-and-such a religion. Here, there are many religions; therefore, they are recognised by the different names that are given to them. There, there is only the one religion. This is why there is no need for them to say that they belong to a particular religion. They are not even aware that there is a religion because there is only their kingdom. You now understand that you belong to the original eternal deity religion. No one else would be called a deity. Because of being impure, you cannot call yourselves deities. Only those who are pure could be called deities. There, there is nothing like that. They cannot be compared with anyone. You are now at the confluence age and you know that the original eternal deity religion is once again being established. There, there is just the one religion, so how could there be any questions about religion? You children have also been told that it is wrong when they say that nothing remains when the great annihilation takes place. The Father sits here and explains what is right. In the scriptures, a great flood is shown. The Father explains: apart from Bharat everything is flooded. What need would there be for such a large world? Just look how many villages there are in Bharat alone! First it’s a forest, and then the population continues to grow. Only you, who belong to the original eternal deity religion, reside there. This is in the intellects of you Brahmins. Baba inspires you to imbibe these things. You now know who Shiv Baba, the Highest on High, is. Why is He worshipped and why are uck flowers etc. offered to Him? He is incorporeal, is He not? They say that He is beyond name and form, but there is nothing that doesn’t have a name or form. Then, to whom do they offer flowers etc.? It is He who is worshipped first. Temples are built to Him, because He serves the children of Bharat in particular and the whole world in general. It is human beings who are served, is it not? You wouldn’t call yourselves those who belong to the deity religion at this time, would you? You didn’t know that you used to be deities and that you are now becoming that once again. The Father is now explaining this to you. Therefore, explain that no one but the Father can give you this knowledge. Only He is called the Ocean of Knowledge, the Knowledge-full One. It is remembered that no one, not even the rishis or munis etc. knows the Creator or creation. They have been saying “Neti, neti” (He is neither this nor that). Do little children have knowledge? As they grow older, their intellects start to open. Then, it starts to enter their intellects where foreign lands are, or where something else is. Similarly, you children didn’t know anything of this unlimited knowledge previously. This one also says: Although I used to study the scriptures etc. I didn’t understand anything. Human beings are actors in this drama. The whole play is based on two things: the defeat of Bharat and the victory of Bharat. At the beginning of the golden age, there was the pure religion in Bharat. At this time, religion is impure. Because of their impurity, they cannot call themselves deities. Nevertheless, people still have themselves called Shri Shri. However, Shri means elevated. It is the pure deities who are said to be elevated. It is said, “God speaks elevated versions.” Now, who is Shri (elevated)? Is it those who listened to the Father personally, face to face, and became elevated or those who have themselves called Shri Shri (doubly elevated)? They even call themselves by the names that the Father has been given because of the task He accomplished. All of these things are details. Nevertheless, the Father says: Children, continue to remember the one Father. This is the mantra that disciplines the mind. By conquering Ravan you become the conquerors of the world. Repeatedly consider yourselves to be souls. This body of the five elements is created here. A body is created, that body is shed and then another is created, but the soul is imperishable. You imperishable souls are now being taught by the imperishable Father at the confluence age. No matter how many obstacles etc. there are, or how many storms of Maya there are, just continue to stay in remembrance of the Father. You understand that you were satopradhan and that you have now become tamopradhan. Among you too, you understand this knowledge, numberwise. The intellects of you children understand that you are the ones who did devotion first. Those who did devotion first must definitely have built temples to Shiv Baba, because they were the ones who were wealthy. When the great kings were seen doing that, all the other kings and subjects also did the same. All of these things are details. It is said “Liberation-in-life in a second.” However, it takes so many years to explain. Knowledge is easy. Knowledge doesn’t require as much time as the pilgrimage of remembrance does. People call out: Baba, come and make us impure ones pure. They don’t call out: Baba, make us into the masters of the world. Everyone calls out: Make us pure from impure. The golden age is called the pure world. This world is called the impure world. Even though they call this world impure, they don’t consider themselves to be impure. They don’t have that distaste for themselves. When you don’t eat food prepared by others, they ask: Are we untouchables? Ah! But you yourselves say, “Everyone is impure.” You yourselves say that you are impure and that the deities are pure. So, what would you call impure ones? It is remembered: Why should I renounce nectar and drink poison? Poison is bad, is it not? The Father says: This poison causes you sorrow from the time it begins through the middle to the end. However, you don’t consider it to be poison. You are like an addict who can’t stop his addiction, like an alcoholic who can’t stop taking alcohol. When it is time for soldiers to go into battle, they are given alcohol to make them intoxicated. Then they are sent into battle. Once they are intoxicated, that’s it! They feel that that is what they have to do. They don’t fear death. Pilots would fly anywhere with bombs and crash with the bombs. It is remembered that there was a war of missiles. You can now see the right things in a practical way. Previously, you just used to read that they brought out missiles from their stomachs and then did this and that. You now understand who the Pandavas were and who the Kauravas were. In order to become residents of heaven, the Pandavas made effort to melt away their body consciousness while alive. You are now making effort to shed your old shoes. You say that you are going to shed your old shoe and take a new one, do you not? The Father only explains to His children. The Father says: I come every cycle. My name is Shiva. Shiva’s birthday is celebrated. So many temples etc. are built on the path of devotion. Many names have been given to Him. Even the goddesses have been given such names. You are worshipped at this time. Only you children know that the One whom you used to worship is now teaching you. We are now becoming the Lakshmi and Narayan whom we used to worship. You have this knowledge in your intellects. Continue to churn it and relate it to others. Many of you are unable to imbibe these things. Baba says: If you are unable to imbibe very much, it doesn’t matter. You do practise having remembrance, do you not? Continue to remember the Father alone. Those who are unable to speak knowledge should sit here and churn these things. There are no bondages or complications etc. here. When you’re at home and among the atmosphere of your children etc., your intoxication disappears. You also have the pictures here. It is very easy to explain these pictures to anyone. Those people learn the whole Gita etc. by heart. Sikhs learn the Granth by heart. What do you have to recite? The Father (remembering Him). You even say: Baba, these are completely new things. This is the only time when you have to consider yourselves to be souls and remember the one Father. You were taught this 5000 years ago as well. No one else has the power to explain to you in this way. Only the one Father is the Ocean of Knowledge. No one else could be this. Only the Father, the Ocean of Knowledge, explains to you. Nowadays, many people, who claim to be such-and-such an incarnation, have emerged. This is why there are so many obstacles in the establishment of truth. However, it is remembered: “The boat of truth may rock, but it will not sink.” You children have now come to the Father. Therefore, you should have so much happiness in your hearts. Previously, when you used to go on pilgrimages, what did you have in your hearts? What thoughts do you have now when you leave your household to come here? We are going to BapDada. The Father has also explained: I am just called Shiv Baba. The one whom I have entered is Brahma. There are genealogical trees, are there not? First, there is the genealogical tree of Brahmins and next comes the genealogical tree of deities. The Father, the Resident of the faraway land, is now making you children far sighted. You souls know how you enter the different castes of the whole cycle. Only the far-sighted Father can give you this knowledge. Think about how you now belong to the Brahmin caste and, before that, when you had no knowledge, how you belonged to the shudra caste. He is your great-great-grandfather. You were great shudras, great merchants and great warriors. Before that, you were great Brahmins. No one but the Father can explain these things. This is called far-sighted knowledge. The Father, the Resident of the faraway land, has come to give you children all the knowledge of the faraway land. You know that our Baba comes from the faraway land and enters this one. This is a foreign land and a foreign kingdom. Shiv Baba doesn’t have a body of His own. He is the Ocean of Knowledge. He has to give us the kingdom of heaven. Krishna cannot do this. Only Shiv Baba can give it. Krishna cannot be called Baba. The Father gives you your kingdom. Only from your father do you receive an inheritance. All those limited inheritances are now going to end. When you’re in the golden age, you won’t be aware that you claimed your inheritance for 21births at the confluence age. You now know that you are claiming your inheritance for 21 births, for half the cycle. Your inheritance will continue for 21 generations, which means for your full lifespan (in each birth). When your body becomes old, you will shed it at the accurate time, just as a snake sheds its old skin and takes a new one. Our costumes have now become old while we have been playing our parts. You are true Brahmins. You are the ones referred to as buzzing moths. You make insects into Brahmins like yourselves. You are told to bring the insects here and buzz this knowledge to them. A buzzing moth buzzes the knowledge and then some insects develop wings whereas others die. All of those examples refer to this time. You beloved children are called the Lights of the Eyes. The Father says: Lights of My Eyes! I have made you belong to Me. Therefore, you are Mine. The more you remember such a Father, the more your sins will be cut away. Your sins cannot be cut away by your remembering anyone else. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father and BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Make effort for as long as you live to melt away your body consciousness. You shouldn’t have the slightest attachment to your old shoe.
  2. Become a true Brahmin and buzz knowledge to insects and make them into Brahmins like yourself.
Blessing: May you be a true jewel of contentment who uplifts others and creates hope in those who are hopeless.
Become trikaldarshi and discern any weakness in every soul. Instead of imbibing that weakness yourself or speaking about it, finish the thorn of that weakness with your benevolent form; transform the thorn into a flower. You yourself have to remain content as a jewel of contentment and make others content; you should always light a lamp of hope for someone or situation which everyone feels is hopeless, that is, you must make disheartened souls powerful. When you continue to carry out such an elevated task you will receive the blessing of being one who uplifts others and of being a jewel of contentment.
Slogan: When you remember your promise at the time of your examination, revelation will take place.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 17 JUNE 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 17 June 2020

Murli Pdf for Print : – 

17-06-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – याद में रहो तो दूर होते भी साथ में हो, याद से साथ का भी अनुभव होता है और विकर्म भी विनाश होते हैं”
प्रश्नः- दूरदेशी बाप बच्चों को दूरांदेशी बनाने के लिए कौन-सा ज्ञान देते हैं?
उत्तर:- आत्मा कैसे चक्र में भिन्न-भिन्न वर्णों में आती है, इसका ज्ञान दूरांदेशी बाप ही देते हैं। तुम जानते हो अभी हम ब्राह्मण वर्ण के हैं इसके पहले जब ज्ञान नहीं था तो शूद्र वर्ण के थे, उसके पहले वैश्य….. वर्ण के थे। दूरदेश में रहने वाला बाप आकर यह दूरांदेशी बनने का सारा ज्ञान बच्चों को देते हैं।
गीत:- जो पिया के साथ है……

ओम् शान्ति। जो ज्ञान सागर के साथ है उनके लिए ज्ञान बरसात है। तुम बाप के साथ हो ना। भल विलायत में हो वा कहाँ भी हो, साथ हो। याद तो रखते हो ना। जो भी बच्चे याद में रहते हैं, वो सदैव साथ में हैं। याद में रहने से साथ रहते हैं और विकर्म विनाश होते हैं फिर शुरू होता है विकर्माजीत संवत। फिर जब रावण राज्य होता है तब कहते हैं राजा पाम का संवत। वह विकर्माजीत, वह पामी। अभी तुम विकर्माजीत बन रहे हो। फिर तुम पामी बन जायेंगे। इस समय सभी अति विकर्मी हैं। किसको भी अपने धर्म का पता नहीं है। आज बाबा एक छोटा-सा प्रश्न पूछते हैं-सतयुग में देवतायें यह जानते हैं कि हम आदि सनातन देवी-देवता धर्म के हैं? जैसे तुम समझते हो हम हिन्दू धर्म के हैं, कोई कहेंगे हम क्रिश्चियन धर्म के हैं। वैसे वहाँ देवतायें अपने को देवी-देवता धर्म का समझते हैं? विचार की बात है ना। वहाँ दूसरा कोई धर्म तो है नहीं जो समझें कि हम फलाने धर्म के हैं। यहाँ बहुत धर्म हैं, तो पहचान देने के लिए अलग-अलग नाम रखे हैं। वहाँ तो है ही एक धर्म इसलिए कहने की दरकार नहीं रहती है कि हम इस धर्म के हैं। उनको पता भी नहीं है कि कोई धर्म होते हैं, उनकी ही राजाई है। अभी तुम जानते हो हम आदि सनातन देवी-देवता धर्म के हैं। देवी-देवता और कोई को कहा नहीं जा सकता। पतित होने कारण अपने को देवता कह नहीं सकते। पवित्र को ही देवता कहा जाता है। वहाँ ऐसी कोई बात होती नहीं। कोई से भेंट नहीं की जा सकती। अभी तुम संगमयुग पर हो, जानते हो आदि सनातन देवी-देवता धर्म फिर से स्थापन हो रहा है। वहाँ तो धर्म की बात ही नहीं है। है ही एक धर्म। यह भी बच्चों को समझाया है, यह जो कहते हैं-महाप्रलय होती है अर्थात् कुछ भी नहीं रहता, यह भी रांग हो जाता है। बाप बैठ समझाते हैं-राइट क्या है? शास्त्रों में तो जलमई दिखा दी है। बाप समझाते हैं सिवाए भारत के बाकी जलमई हो जाती है। इतनी बड़ी सृष्टि क्या करेंगे। एक भारत में ही देखो कितने गांव हैं। पहले जंगल होता है फिर उनसे वृद्धि होती जाती है। वहाँ तो सिर्फ तुम आदि सनातन देवी-देवता धर्म के ही रहते हो। यह तुम ब्राह्मणों की बुद्धि में बाबा धारणा करा रहे हैं। अभी तुम जानते हो ऊंच ते ऊंच शिवबाबा कौन है? उनकी पूजा क्यों की जाती है? अक आदि के फूल क्यों चढ़ाते हैं? वह तो निराकार है ना। कहते हैं नाम रूप से न्यारा है, परन्तु नाम रूप से न्यारी कोई चीज़ तो होती नहीं। तब क्या है-जिसको फूल आदि चढ़ाते हैं? पहले-पहले पूजा उनकी होती है। मन्दिर भी उनके बनते हैं क्योंकि भारत की और सारी दुनिया के बच्चों की सर्विस करते हैं। मनुष्यों की ही सर्विस की जाती है ना। इस समय तुम अपने को देवी-देवता धर्म के नहीं कहला सकते। तुमको पता भी नहीं था कि हम देवी-देवता थे फिर अभी बन रहे हैं। अभी बाप समझा रहे हैं तो समझाना चाहिए-यह नॉलेज सिवाए बाप के कोई दे न सके। उनको ही कहते हैं ज्ञान का सागर, नॉलेजफुल। गाया हुआ है रचता और रचना को ऋषि-मुनि आदि कोई भी नहीं जानते। नेती-नेती करते गये हैं। जैसे छोटे बच्चे को नॉलेज है क्या? जैसे बड़े होते जायेंगे, बुद्धि खुलती जायेगी। बुद्धि में आता जायेगा, विलायत कहाँ है, यह कहाँ है। तुम बच्चे भी पहले इस बेहद की नॉलेज को कुछ भी नहीं जानते थे। यह भी कहते हैं भल हम शास्त्र आदि पढ़ते थे परन्तु समझते कुछ भी नहीं थे। मनुष्य ही इस ड्रामा में एक्टर हैं ना।

सारा खेल दो बातों पर बना हुआ है। भारत की हार और भारत की जीत। भारत में सतयुग आदि के समय पवित्र धर्म था, इस समय है अपवित्र धर्म। अपवित्रता के कारण अपने को देवता नहीं कह सकते हैं फिर भी श्री श्री नाम रखा देते हैं। लेकिन श्री माना श्रेष्ठ। श्रेष्ठ कहा ही जाता है पवित्र देवताओं को। श्रीमत भगवानुवाच कहा जाता है ना। अब श्री कौन ठहरे? जो बाप के सम्मुख सुनकर श्री बनते हैं या जिन्होंने अपने को श्री श्री कहलाया है? बाप के कर्तव्य पर जो नाम पड़े हैं, वह भी अपने ऊपर रखा दिये हैं। यह सब हैं रेज़गारी बातें। फिर भी बाप कहते हैं-बच्चों, एक बाप को याद करते रहो। यही वशीकरण मंत्र है। तुम रावण पर जीत पहन जगतजीत बनते हो। घड़ी-घड़ी अपने को आत्मा समझो। यह शरीर तो यहाँ 5 तत्वों का बना हुआ है। बनता है, छूटता है फिर बनता है। अब आत्मा तो अविनाशी है। अविनाशी आत्माओं को अब अविनाशी बाप पढ़ा रहे हैं संगमयुग पर। भल कितने भी विघ्न आदि पड़ते हैं, माया के तूफान आते हैं, तुम बाप की याद में रहो। तुम समझते हो हम ही सतोप्रधान थे फिर तमोप्रधान बने हैं। तुम्हारे में भी नम्बरवार जानते हैं। तुम बच्चों की बुद्धि में है-हमने ही पहले-पहले भक्ति की है। जरूर जिसने पहले-पहले भक्ति की है उसने ही शिव का मन्दिर बनाया क्योंकि धनवान भी वह होते हैं ना। बड़े राजा को देख और भी राजायें और प्रजा भी करेंगे। यह सब हैं डीटेल की बातें। एक सेकण्ड में जीवन-मुक्ति कहा जाता है। फिर कितने वर्ष लग जाते हैं समझाने में। ज्ञान तो सहज है, उसमें इतना टाइम नहीं लगता है, जितना याद की यात्रा पर लगता है। पुकारते भी हैं बाबा आओ, आकर हमको पतित से पावन बनाओ, ऐसे नहीं कहते कि बाबा हमें विश्व का मालिक बनाओ। सब कहेंगे पतित से पावन बनाओ। पावन दुनिया कहा जाता है सतयुग को, इनको पतित दुनिया कहेंगे, पतित दुनिया कहते हुए भी अपने को समझते नहीं। अपने प्रति घृणा नहीं रखते। तुम किसके हाथ का नहीं खाते हो, तो कहते हैं हम अछूत हैं क्या? अरे, तुम खुद ही कहते हो ना। पतित तो सब हैं ना। तुम कहते भी हो हम पतित हैं, यह देवतायें पावन हैं। तो पतित को क्या कहेंगे। गायन है ना-अमृत छोड़ विष काहे को खाए। विष तो खराब है ना। बाप कहते हैं यह विष तुमको आदि-मध्य-अन्त दु:ख देता है परन्तु इनको प्वाइज़न समझते थोड़ेही हैं। जैसे अमली अमल बिगर रह नहीं सकता, शराब की आदत वाला शराब बिगर रह न सके। लड़ाई का समय होता है तो उनको शराब पिलाकर नशा चढ़ाए लड़ाई पर भेज देते हैं। नशा मिला बस, समझेंगे हमको ऐसा करना है। उन लोगों को मरने का डर नहीं रहता है। कहाँ भी बॉम्ब्स ले जाकर बॉम्ब सहित गिरते हैं। गायन भी है मूसलों की लड़ाई लगी, राइट बात अभी तुम प्रैक्टिकल में देख रहे हो। आगे तो सिर्फ पढ़ते थे, पेट से मूसल निकाले फिर यह किया। अभी तुम समझते हो पाण्डव कौन हैं, कौरव कौन हैं? स्वर्गवासी बनने के लिए पाण्डवों ने जीते जी देह-अभिमान से गलने का पुरूषार्थ किया। तुम अभी यह पुरानी जुत्ती छोड़ने का पुरूषार्थ करते हो। कहते हो ना-पुरानी जुत्ती छोड़ नई लेनी है। बाप बच्चों को ही समझाते हैं। बाप कहते हैं मैं कल्प-कल्प आता हूँ। मेरा नाम है शिव। शिव जयन्ती भी मनाते हैं। भक्ति-मार्ग के लिए कितने मन्दिर आदि बनाते हैं। नाम भी बहुत रख दिये हैं। देवियों के भी ऐसे नाम रख देते हैं। इस समय तुम्हारी पूजा हो रही है। यह भी तुम बच्चे ही जानते हो जिसकी हम पूजा करते थे वह हमको पढ़ा रहे हैं। जिन लक्ष्मी-नारायण के हम पुजारी थे वह अभी हम खुद बन रहे हैं। यह ज्ञान बुद्धि में है। सिमरण करते रहो फिर औरों को भी सुनाओ। बहुत हैं जो धारणा नहीं कर सकते हैं। बाबा कहते हैं जास्ती धारणा नहीं कर सकते हो तो हर्जा नहीं। याद की तो धारणा है ना। बाप को ही याद करते रहो। जिनकी मुरली नहीं चलती है तो यहाँ बैठे सिमरण करें। यहाँ कोई बन्धन झंझट आदि है नहीं। घर में बाल बच्चों आदि का वातावरण देख वह नशा गुम हो जाता है। यहाँ चित्र भी रखे हैं। किसको भी समझाना बहुत सहज है। वो लोग तो गीता आदि पूरी कण्ठ कर लेते हैं। सिक्ख लोगों को भी ग्रंथ कण्ठ रहता है। तुमको क्या कण्ठ करना है? बाप को। तुम कहते भी हो बाबा, यह है बिल्कुल नई चीज़। यह एक ही समय है जबकि तुमको अपने को आत्मा समझ एक बाप को याद करना है। 5 हज़ार वर्ष पहले भी सिखाया था, और कोई की ताकत नहीं जो ऐसे समझा सके। ज्ञान सागर है ही एक बाप, दूसरा कोई हो न सके। ज्ञान सागर बाप ही तुमको समझाते हैं, आजकल ऐसे भी बहुत निकले हैं जो कहते हैं हमने अवतार लिया है इसलिए सच की स्थापना में कितने विघ्न पड़ते हैं परन्तु गाया हुआ है सच की नांव हिलेगी, डुलेगी लेकिन डूबेगी नहीं।

अब तुम बच्चे बाप के पास आते हो तो तुम्हारी दिल में कितनी खुशी रहनी चाहिए। आगे यात्रा पर जाते थे, तो दिल में क्या आता था? अभी घरबार छोड़ यहाँ आते हो तो क्या ख्यालात आते हैं? हम बापदादा के पास जाते हैं। बाप ने यह भी समझाया है-मुझे सिर्फ शिवबाबा कहते हैं जिसमें प्रवेश किया है, वह है ब्रह्मा। बिरादरियां होती हैं ना। पहली-पहली बिरादरी ब्राह्मणों की है फिर देवताओं की बिरादरी हो जाती है। अभी दूरदेशी बाप बच्चों को दूरांदेशी बनाते हैं। तुम जानते हो आत्मा कैसे सारे चक्र में भिन्न-भिन्न वर्णो मे आई है, इसका ज्ञान दूरांदेशी बाप ही देते हैं। तुम विचार करेंगे अभी हम ब्राह्मण वर्ण के हैं, इसके पहले जब ज्ञान नहीं था तो शूद्र वर्ण के थे। हमारा है ग्रेट-ग्रेट ग्रैन्ड फादर। ग्रेट शूद्र, ग्रेट वैश्य, ग्रेट क्षत्रिय…… उनके पहले ग्रेट ब्राह्मण थे। अब यह बातें सिवाए बाप के और कोई समझा न सके। इनको कहा जाता है दूरांदेश का ज्ञान। दूरदेश में रहने वाला बाप आकर दूरदेश का सारा ज्ञान देते हैं बच्चों को। तुम जानते हो हमारा बाबा दूरदेश से इसमें आते हैं। यह पराया देश, पराया राज्य है। शिवबाबा को अपना शरीर नहीं है और वह है ज्ञान का सागर, स्वर्ग का राज्य भी उनको देना है। कृष्ण थोड़ेही देंगे। शिवबाबा ही देगा। कृष्ण को बाबा नहीं कहेंगे। बाप राज्य देते हैं, बाप से ही वर्सा मिलता है। अभी हद के वर्से सब पूरे होते हैं। सतयुग में तुमको यह मालूम नहीं रहेगा कि हमने यह संगम पर 21 जन्मों का वर्सा लिया हुआ है। यह अभी जानते हो हम 21 जन्मों का वर्सा आधाकल्प के लिए ले रहे हैं। 21 पीढ़ी यानी पूरी आयु। जब शरीर बूढ़ा होगा तब समय पर शरीर छोड़ेंगे। जैसे सर्प पुरानी खल छोड़ नई ले लेते हैं। हमारा भी पार्ट बजाते-बजाते यह चोला पुराना हो गया है।

तुम सच्चे-सच्चे ब्राह्मण हो। तुम्हें ही भ्रमरी कहा जाता है। तुम कीड़ों को आपसमान ब्राह्मण बनाती हो। तुम्हें कहा जाता है कि कीड़े को ले आकर बैठ भूँ-भूँ करो। भ्रमरी भी भूँ भूँ करती है फिर कोई को तो पंख आ जाते हैं, कोई मर जाते हैं। मिसाल सब अभी के हैं। तुम लाडले बच्चे हो, बच्चों को नूरे रत्न कहा जाता है। बाप कहते हैं नूरे रत्न। तुमको अपना बनाया है तो तुम भी हमारे हुए ना। ऐसे बाप को जितना याद करेंगे पाप कट जायेंगे। और कोई को भी याद करने से पाप नहीं कटेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) जीते जी देह-अभिमान से गलने का पुरूषार्थ करना है। इस पुरानी जुत्ती में ज़रा भी ममत्व न रहे।

2) सच्चा ब्राह्मण बन कीड़ों पर ज्ञान की भूँ-भूँ कर उन्हें आप समान ब्राह्मण बनाना है।

वरदान:- होपलेस में भी होप पैदा करने वाले सच्चे परोपकारी, सन्तुष्टमणी भव
त्रिकालदर्शी बन हर आत्मा की कमजोरी को परखते हुए, उनकी कमजोरी को स्वयं में धारण करने या वर्णन करने के बजाए कमजोरी रूपी कांटे को कल्याणकारी स्वरूप से समाप्त कर देना, कांटे को फूल बना देना, स्वयं भी सन्तुष्टमणी के समान सन्तुष्ट रहना और सर्व को सन्तुष्ट करना, जिसके प्रति सब निराशा दिखायें, ऐसे व्यक्ति वा ऐसी स्थिति में सदा के लिए आशा के दीपक जगाना अर्थात् दिलशिकस्त को शक्तिवान बना देना-ऐसा श्रेष्ठ कर्तव्य चलता रहे तो परोपकारी, सन्तुष्टमणि का वरदान प्राप्त हो जायेगा।
स्लोगन:- परीक्षा के समय प्रतिज्ञा याद आये तब प्रत्यक्षता होगी।

TODAY MURLI 17 JUNE 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 17 June 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 16 June 2019 :- Click Here

17/06/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, have the firm faith that you are souls. Begin any task in the consciousness of being a soul and you will have remembrance of the Father and not commit any sin.
Question: What effort does each of you have to make in order to reach the karmateet stage? What indicates your being close to your karmateet stage?
Answer: In order to become karmateet, make effort to control your physical organs with the power of remembrance. Practise: I, an incorporeal soul, am a child of the incorporeal Father. The greatest effort you make is for all your physical organs to become viceless. The closer you come to your karmateet stage, the more every organ of yours will become cool and fragrant. The bad odour of vice will be removed from them and you will continue to experience supersensuous joy.

Om shanti. God Shiva speaks. You children do not have to be told to whom He speaks. You children know that Shiv Baba is the Ocean of Knowledge and that He is the Seed of the human world. Therefore, He would surely speak to souls. You children understand that Shiv Baba is teaching you. By using the word “Baba”, you understand that it refers to Baba, the Supreme Soul. All human beings refer to that Supreme Soul as the Father. Baba resides in the supreme abode. You first have to make this aspect firm. Consider yourself to be a soul and have very firm faith in this. Souls have to imbibe what the Father says to them. The knowledge that is in the Supreme Soul has to enter you souls too. You then have to relate that to others through your lips. Whatever it is you study, it is the soul that studies. When a soul leaves the body, he doesn’t know anything about study etc. The soul carries his sanskars and goes and sits in his next body. Therefore, firstly, you firmly have to consider yourself to be a soul. You now have to renounce body consciousness. It is the soul that listens and the soul that imbibes. When there is no soul in a body, the body cannot even move. You children now have to have the firm faith that the Supreme Soul is giving knowledge to you souls. You repeatedly forget that you are souls listening through bodies and that the Supreme Soul is speaking through a body, because you only remember bodies. You also know that good and bad sanskars are contained within each soul. It is the soul that drinks alcohol and speaks of dirty things through the physical organs. It is the soul that plays his part through these organs. First of all, you definitely have to become soul conscious. The Father teaches souls. Souls then carry this knowledge back with them. Just as the Supreme Soul resides there with knowledge, in the same way, you souls carry this knowledge with you. I take you children back home with this knowledge. Then, you souls have to come down to play your parts. Your partareto experience the reward in the new world, but you forget the knowledge. You have to imbibe all of this very well. First of all, each of you has to make it extremely firm that you are a soul. There are many who forget this. You have to make a great deal of effort on yourself. You cannot become the masters of the world without making effort. Because this knowledge is new, you repeatedly forget these points. When you forget that you are a soul and become body conscious, you commit one sin or another. You will never commit sin by being soul conscious; your sins will be cut away and no sins will be committed for half the cycle. Therefore, have the firm faith that it is you souls, and not the bodies, who are studying. Previously, you used to receive directions from bodily beings. Now, you are receiving shrimat from the Father. This is completely new knowledge for the new world. All of you will become new. There is nothing to be confused about in this. You have changed from old to new and new to old innumerable times. Therefore, you have to make very good effort. You souls perform actions through your sense organs. Even when you are at your office etc., if you consider yourself to be a soul while you continue to acts through your sense organs, you will definitely be able to remember the Father who teaches you. It is the souls that remember the Father. Previously, although you used to say that you remembered God, you remembered the Incorporeal while considering yourselves to be corporeal. You never used to consider yourselves to be incorporeal while remembering the Incorporeal. You souls now have to consider yourselves to be incorporeal and remember the incorporeal Father. This is an aspect that has to be churned very well. Although some write saying that they stay in remembrance for two hours and some say that they remember Shiv Baba constantly, no one can have constant remembrance. If you did, you would have reached your karmateet stage by now. Only after making a great deal of effort can you reach your karmateet stage. In that stage, all the vicious physical organs are under control. In the golden age, all your physical organs become viceless. Every organ of yours becomes filled with fragrance. Physical organs are dirty now and full of bad odour. The praise of the golden age is very lovely. It is called heaven, the new world, Paradise. The features and the crowns etc. that exist there cannot be created by anyone here. Even though you go into trance and see them, you cannot create them here. There is natural beauty there. Therefore, you children now have to become pure by having remembrance. You have to stay on the pilgrimage of remembrance a great deal. This requires great effort. While remembering Baba, you will reach your karmateet stage and all your physical organs will become cool. Every limb will be full of fragrance and no bad odour will remain. There is now a bad odour in all the physical organs. These bodies are of no use. You souls are now becoming pure. Your bodies cannot become pure. That will only happen when you receive new bodies. The praise “Fragrance in every physical organ” refers to the deities. You children should experience a great deal of happiness. The Father has come and your mercury of happiness should therefore rise. The Father says: Remember Me and your sins will be absolved. The words of the Gita are so clear. Baba has also said: Those who are My devotees and those who study the Gita will definitely be devotees of Krishna. This is why Baba says: Also relate this to the worshippers of the deities. People worship Shiva and then say that He is omnipresent! Even though they defame Him, they go to the temples every day. So many people go to the Shiva Temple. They climb very steep steps to the top. The Temple to Shiva is built at the top. Shiv Baba comes and shows you the picture of the ladder. His name is the highest and His place of residence is also the highest. People go so high up. There are temples to Shiva at Badrinath and Amarnath. He elevates us and so they build a temple to Him high up. Here, too, the Guru Shikhar Temple is built high on a mountain. The highest Father sits here and teaches you. No one else in the world knows that Shiv Baba comes and teaches you. They say that He is omnipresent. You now have your aim and objective in front of you. Who else, apart from the Father, would say: “This is your aim and objective?” Only the Father tells you children this. You also listen to the story of the true Narayan. Those people simply relate religious stories of the things that happened in the past and tell you what happened next. This too is called a story. That highest-on-high Father is telling you a great story. This story will make you very elevated. You should always remember it and also relate it to many others. You create museums and exhibitions to relate these stories. Five thousand years ago, there was just Bharat and the deities used to rule there. This is a true story which no one else can tell you. This is a real story which the Father, the living Lord of the Tree, explains to you and through which you become deities. Purity is the main thing in this. If you don’t become pure, you won’t be able to imbibe. A golden vessel is required to hold the milk of a lioness. Only then can imbibing take place. Your ears are like a vessel. They should be a golden vessel. They are stone at present. Imbibing can take place when they become golden. You have to listen with great attention and imbibe it. The story is easy and it is also written in the Gita. Those people relate stories and earn an income. They earn their income from those who listen to the stories. Here, you also have an income. Both types of income continue at the same time. Both are businesses. You are also being taught. He says: Be “Manmanabhav”! Become pure! No one else can say this nor does anyone remain in the state of “Manmanabhav”. No human being here can be pure because creation takes place here through impurity. The kingdom of Ravan has to continue till the end of the iron age and you have to become pure during that time. Deities, not human beings, are said to be pure. Sannyasis are also human beings but their religion is the path of isolation. The Father says: Remember Me and you will become pure. There has always been the kingdom of the family path in Bharat. You have no connection with those on the path of isolation. Here, both husband and wife have to become pure. When both wheels move together that is fine; otherwise, there is quarrelling. There is quarrelling because of purity. You would never have heard of any quarrelling because of purity in any other spiritual gathering. This quarrelling takes place only once, when the Father comes. Do sages or holy men ever say that innocent ones will be assaulted? Here, daughters cry out: Baba, save us! The Father also asks: You don’t become impure, do you? Lust is the greatest enemy. You fall down completely. It is this vice of lust that has made everyone not worth a penny. The Father says: You have been staying in the brothel for 63 births. Now become pure and go to the Temple of Shiva. Become pure in just this one birth. Remember Shiv Baba and you will go to the Temple of Shiva, heaven. Nevertheless, the vice of lust is very powerful; it troubles you so much. There is so much attraction. That attraction has to be removed. Since you have to return home, you definitely have to become pure. The Teacher will not just remain seated here all the time. The study will continue for a short time. Baba tells you that this is His chariot. He tells you the age of the chariot. The Father says: I am ever immortal. My name is the Lord of Immortality. It is because He doesn’t take rebirth that He is called the Lord of Immortality. He makes you immortal for half the cycle. Even then, you still continue to take rebirth. So, you children now have to go back up above. You have to put your faces in that direction and your feet in the other direction. So, why should you then turn your faces in the other direction (towards the old world)? Some say: Baba, I made a mistake and my face turned in the other direction. So, that means you became the wrong way round. You forget the Father and become body conscious and so you become the wrong way round. The Father explains everything to you. You must not ask the Father for anything: Give me strength, give me power! The Father shows you the way: You have to become like that with the power of yoga. You become so wealthy with the power of yoga that you don’t need to ask anyone for anything for 21 births; you receive so much from the Father. You understand that Baba inspires you to earn a lot of income. He says: Take whatever you want! This Lakshmi and Narayan are the highest. Then, you can take whatever you want. If you don’t study fully, you will become part of the subjects. Subjects definitely have to be created as well. As you progress further, you will have lots of museums and you will receive big halls and colleges where you can serve. You will also definitely receive the halls that people build for carrying out wedding ceremonies. You should explain that God Shiva speaks: I make you so pure(the deities). The trustees will then give you their hall. Tell them: God speaks: Lust is the greatest enemy through which you have received sorrow. Now become pure and go to the pure world. You will continue to receive halls. Then, it will be said: Too late! The Father says: I will not take anything from you for nothing for which I would then have to give a return. The pennies of the children create the lake, and everything of everyone else will turn to dust. The Father is the greatest Pawnbroker, Goldsmith, Laundryman and Artisan. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Listen with attention to the true story that the Father tells you and imbibe it. Never ask the Father for anything. Accumulate an income for yourself for 21 births.
  2. You have to return home. Therefore, finish the attraction of the body with the power of yoga. Make your physical organs cool. Make effort to renounce all consciousness of the body.
Blessing: May you be constantly victorious over all adverse situations by being seated on your seat of self-respect.
Remain constantly seated on your seat of self-respect: I am a victorious jewel, I am a master almighty authority. As is your seat, so you develop the qualifications for that seat. When any adverse situation comes in front of you, set yourself on this seat in a second. The only orders that are obeyed come from those who are seated on their seat (of position). Remain on your seat and you will become victorious. The confluence age is the age to be constantly victorious. This age is blessed and so be blessed and become victorious.
Slogan: Those who gain victory over all their weaknesses are the Shiv Shakti Pandav army.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 17 JUNE 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 17 June 2019

To Read Murli 16 June 2019 :- Click Here
17-06-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – पक्का-पक्का निश्चय करो कि हम आत्मा हैं, आत्मा समझकर हर काम शुरू करो तो बाप याद आयेगा, पाप नहीं होगा”
प्रश्नः- कर्मातीत स्थिति को प्राप्त करने के लिए कौन-सी मेहनत हर एक को करनी है? कर्मातीत स्थिति के समीपता की निशानी क्या है?
उत्तर:- कर्मातीत बनने के लिए याद के बल से अपनी कर्मेन्द्रियों को वश में करने की मेहनत करो। अभ्यास करो मैं निराकार आत्मा निराकार बाप की सन्तान हूँ। सब कर्मेन्द्रियां निर्विकारी बन जायें – यह है जबरदस्त मेहनत। जितना कर्मातीत अवस्था के समीप आते जायेंगे उतना अंग-अंग शीतल, सुगन्धित होते जायेंगे। उनसे विकारी बांस निकल जायेगी। अतीन्द्रिय सुख का अनुभव होता रहेगा।

ओम् शान्ति। शिव भगवानुवाच। यह तो बच्चों को नहीं बताना है कि किसके प्रति। बच्चे जानते हैं – शिवबाबा ज्ञान का सागर है। मनुष्य सृष्टि का बीजरूप है। तो जरूर आत्माओं से बात करते हैं। बच्चे जानते हैं शिवबाबा पढ़ा रहे हैं। बाबा अक्षर से समझते हैं परम आत्मा को ही बाबा कहते हैं। सब मनुष्य मात्र उस परम आत्मा को ही फादर कहते हैं! बाबा परमधाम में रहते हैं। पहले-पहले यह बातें पक्की करनी है। अपने को आत्मा समझना है और यह पक्का निश्चय करना है। बाप जो सुनाते हैं, वह आत्मा ही धारण करती है। जो ज्ञान परमात्मा में है वह आत्मा में भी आना चाहिए। जो फिर मुख से वर्णन करना होता है। जो कुछ भी पढ़ाई पढ़ते हैं, वह आत्मा ही पढ़ती है। आत्मा निकल जाये तो पढ़ाई आदि का कुछ भी मालूम न पड़े। आत्मा संस्कार ले गई, जाकर दूसरे शरीर में बैठी। तो पहले अपने को आत्मा पक्का-पक्का समझना पड़े। देह-अभिमान अब छोड़ना पड़े। आत्मा सुनती है, आत्मा धारण करती है। आत्मा इसमें नहीं होती तो शरीर हिल भी न सके। अब तुम बच्चों को यह पक्का-पक्का निश्चय करना है – परम आत्मा हम आत्माओं को ज्ञान दे रहे हैं। हम आत्मा भी शरीर द्वारा सुनती हैं और परमात्मा शरीर द्वारा सुना रहे हैं – यही घड़ी-घड़ी भूल जाते हैं। देह याद आती है। यह भी जानते हो अच्छे वा बुरे संस्कार आत्मा में ही रहते हैं। शराब पीना, छी-छी बात करना……. यह भी आत्मा करती है आरगन्स द्वारा। आत्मा ही इन आरगन्स द्वारा इतना पार्ट बजाती है। पहले-पहले आत्म-अभिमानी जरूर बनना है। बाप आत्माओं को ही पढ़ाते हैं। आत्मा ही फिर यह नॉलेज साथ में ले जायेगी। जैसे वहाँ परम आत्मा ज्ञान सहित रहते हैं, वैसे तुम आत्मायें फिर यह नॉलेज साथ में ले जायेंगी। मैं तुम बच्चों को इस ज्ञान सहित ले जाता हूँ। फिर तुम आत्माओं को पार्ट में आना है, तुम्हारा पार्ट है नई दुनिया में प्रालब्ध भोगना। ज्ञान भूल जाता है। यह सब अच्छी रीति धारण करना है। पहले-पहले यह बहुत-बहुत पक्का करना है कि मैं आत्मा हूँ, बहुत हैं जो यह भूल जाते हैं। अपने साथ बहुत-बहुत मेहनत करनी है। विश्व का मालिक बनना है तो मेहनत बिगर थोड़ेही बनेंगे। घड़ी-घड़ी इस प्वाइंट को ही भूल जाते हैं क्योंकि यह नई नॉलेज है। जब अपने को आत्मा भूल देह-अभिमान में आते हैं तो कुछ न कुछ पाप होते हैं। देही-अभिमानी बनने से कभी पाप नहीं होंगे। पाप कट जायेंगे। फिर आधाकल्प कोई पाप नहीं होगा। तो यह निश्चय रखना चाहिए – हम आत्मा पढ़ती हैं, देह नहीं। आगे जिस्मानी मनुष्य मत मिलती थी, अब बाप श्रीमत दे रहे हैं। यह नई दुनिया की बिल्कुल नई नॉलेज है। तुम सब नये बन जायेंगे, इसमें मूंझने की बात ही नहीं। अनेकानेक बार तुम पुराने से नये, नये से पुराने बनते आये हो, इसलिए अच्छी रीति पुरूषार्थ करना है।

हम आत्मा कर्मेन्द्रियों द्वारा यह काम करते हैं। ऑफिस आदि में भी अपने को आत्मा समझकर कर्मेन्द्रियों से काम करते रहेंगे तो सिखलाने वाला बाप जरूर याद पड़ेगा। आत्मा ही बाप को याद करती है। भल आगे भी कहते थे हम भगवान् को याद करता हूँ। परन्तु अपने को साकार समझ निराकार को याद करते थे। अपने को निराकार समझ निराकार को याद कभी नहीं करते थे। अभी तुमको अपने को निराकार आत्मा समझ निराकार बाप को याद करना है। यह बड़ी विचार सागर मंथन करने की बात है। भल कोई-कोई लिखते हैं – हम 2 घण्टा याद में रहते हैं। कोई कहते हैं हम सदैव शिवबाबा को याद करते हैं। परन्तु सदैव कोई याद कर न सके। अगर याद करता हो तो पहले से ही कर्मातीत अवस्था हो जाये। कर्मातीत अवस्था तो बड़ी जबरदस्त मेहनत से होती है। इसमें सब विकारी कर्मेन्द्रियां वश हो जाती हैं। सतयुग में सब कर्मेन्द्रियां निर्विकारी बन जाती हैं। अंग-अंग सुगंधित हो जाता है। अभी बांसी छी-छी अंग है। सतयुग की तो बहुत प्यारी महिमा है। उसको कहा जाता है हेविन नई दुनिया, वैकुण्ठ। वहाँ के फीचर्स, ताज आदि यहाँ पर कोई बना न सकें। भल तुम देखकर भी आते हो। परन्तु यहाँ वह बना न सके। वहाँ तो नैचुरल शोभा रहती है तो अब तुम बच्चों को याद से ही पावन बनना है। याद की यात्रा बहुत-बहुत करनी है। इसमें बड़ी मेहनत है। याद करते-करते कर्मातीत अवस्था को पा लें तो सब कर्मेन्द्रियां शीतल हो जायें। अंग-अंग बहुत सुगन्धित हो जायें, बदबू नहीं रहेगी। अभी तो सभी कर्मेन्द्रियों में बदबू है। यह शरीर कोई काम का नहीं है। तुम्हारी आत्मा अभी पवित्र बन रही है। शरीर तो बन न सके। वह तब बनें जब तुमको नया शरीर मिले। अंग-अंग में सुगंध हो – यह महिमा देवताओं की है। तुम बच्चों को बहुत खुशी होनी चाहिए। बाप आया है तो खुशी का पारा चढ़ जाना चाहिए।

बाप कहते हैं मुझे याद करो तो विकर्म विनाश होंगे। गीता के अक्षर कितने क्लीयर हैं। बाबा ने कहा भी है – मेरे जो भक्त हैं, जो गीता-पाठी होंगे, वह कृष्ण के पुजारी जरूर होंगे। तब बाबा कहते हैं देवताओं के पुजारियों को सुनाना। मनुष्य शिव की पूजा करते हैं और फिर कह देते हैं सर्वव्यापी। ग्लानि करते हुए भी मन्दिरों में रोज़ जाते हैं। शिव के मन्दिर में ढेर के ढेर जाते हैं। बहुत ऊंची सीढ़ी चढ़कर जाते हैं ऊपर में, शिव का मन्दिर ऊपर बनाया जाता है। शिवबाबा भी आकर के सीढ़ी बताते हैं ना। उनका ऊंचा नाम, ऊंचा ठाँव है। कितना ऊपर जाते हैं। बद्रीनाथ, अमरनाथ वहाँ शिव के मन्दिर हैं। ऊंच चढ़ाने वाला है, तो उनका मन्दिर भी बहुत ऊंच बनाते हैं। यहाँ गुरु शिखर का मन्दिर भी ऊंची पहाड़ी पर बनाया हुआ है। ऊंच बाप बैठ तुमको पढ़ाते हैं। दुनिया में और कोई नहीं जानते कि शिवबाबा आकर पढ़ाते हैं। वह तो सर्वव्यापी कह देते हैं। अभी तुम्हारे सामने एम ऑबजेक्ट भी खड़ी है। सिवाए बाप के और कौन कहेगा – यह तुम्हारी एम आबजेक्ट है। यह बाप ही तुम बच्चों को बतलाते हैं। तुम कथा भी सत्य नारायण की सुनते हो। वह तो जो पास्ट हो जाता है, उनकी कथायें बताते हैं कि आगे क्या-क्या हुआ। जिसको कहानी कहा जाता है। यह ऊंच ते ऊंच बाप बड़े ते बड़ी कहानी सुनाते हैं। यह कहानी तुमको बहुत ऊंच बनाने वाली है। यह सदैव याद रखनी चाहिए और बहुतों को सुनानी है। कहानी सुनाने के लिए ही तुम प्रदर्शनी वा म्युज़ियम बनाते हो। 5 हज़ार वर्ष पहले भारत ही था, जिसमें देवतायें राज्य करते थे। यह है सच्ची-सच्ची कहानी, जो दूसरा कोई बता न सके। यह रीयल कहानी है जो चैतन्य वृक्षपति बाप बैठ समझाते हैं, जिससे तुम देवता बनते हो। इसमें पवित्रता मुख्य है। पवित्र नहीं बनेंगे तो धारणा नहीं होगी। शेरनी के दूध के लिए सोने का बर्तन चाहिए, तब ही धारणा हो सकेगी। यह कान बर्तन मिसल हैं ना। यह सोने का बर्तन होना चाहिए। अभी पत्थर का है। सोने का बने तब ही धारणा हो सके। बड़ा अटेन्शन से सुनना और धारण करना है। कहानी तो इज़ी है, जो गीता में लिखी है। वह कहानियां सुनाकर कमाई करते हैं। सुनने वालों से उन्हों की कमाई हो जाती है। यहाँ तुम्हारी भी कमाई है। दोनों कमाई चलती रहती हैं। दोनों व्यापार हैं। पढ़ाते भी हैं। कहते हैं मनमनाभव, पवित्र बनो। ऐसे और कोई नहीं कहते, न मनमनाभव रहते हैं। कोई भी मनुष्य यहाँ पवित्र हो नहीं सकते क्योंकि भ्रष्टाचार की पैदाइस है। रावण राज्य कलियुग अन्त तक चलना है, उसमें पावन होना है। पावन कहा जाता है देवताओं को, न कि मनुष्यों को। सन्यासी भी मनुष्य हैं, उन्हों का है निवृत्ति मार्ग का धर्म। बाप कहते हैं मुझे याद करो तो तुम पवित्र बन जायेंगे। भारत में प्रवृत्ति मार्ग का ही राज्य चला है। निवृत्ति मार्ग वालों से तुम्हारा कोई कनेक्शन नहीं है। यहाँ तो स्त्री-पुरूष दोनों को पवित्र बनना है। दोनों पहिये चलते हैं तो ठीक है, नहीं तो झगड़ा हो पड़ता है। पवित्रता पर ही झगड़ा चलता है। और कोई सतसंग में पवित्रता पर झगड़ा हो, ऐसा कभी सुना नहीं होगा। यह एक ही बार जब बाप आते हैं तब झगड़ा होता है। साधू सन्त आदि कभी कहते हैं क्या कि अबलाओं पर अत्याचार होंगे! यहाँ बच्चियां पुकारती हैं बाबा हमको बचाओ। बाप भी पूछते हैं नंगन तो नहीं होते हो? क्योंकि काम महाशत्रु है ना। एकदम गिर पड़ते हैं। इस काम विकार ने सबको वर्थ नाट ए पेनी बनाया है। बाप कहते हैं 63 जन्म तुम वेश्यालय में रहते हो, अभी पावन बन शिवालय में चलना है। यह एक जन्म पवित्र बनो। शिवबाबा को याद करो तो शिवालय स्वर्ग में चलेंगे। फिर भी काम विकार कितना जबरदस्त है। कितना हैरान करते हैं, कशिश होती है। कशिश को निकालना चाहिए। जबकि वापिस जाना है तो पवित्र जरूर बनना है। टीचर कोई बैठा थोड़ेही रहेगा। पढ़ाई थोड़ा समय चलेगी। बाबा बता देते हैं। हमारा यह रथ है ना। रथ की आयु कहेंगे। बाप कहते हम तो सदैव अमर हैं, हमारा नाम ही है अमरनाथ। पुनर्जन्म नहीं लेते इसलिए अमरनाथ कहा जाता है। तुमको आधा कल्प के लिए अमर बनाते हैं। फिर भी तुम पुनर्जन्म लेते हो। तो अब तुम बच्चों को जाना है ऊपर। मुंह उस तरफ, टांगे इस तरफ करनी हैं। फिर इस तरफ मुंह क्यों फिराना चाहिए। कहते हैं बाबा भूल हो गई, मुंह इस तरफ हो गया। तो गोया उल्टे बन जाते हैं।

तुम बाप को भूल देह-अभिमानी बनते हो तो उल्टा बन जाते हो। बाप सब कुछ बतलाते हैं। बाप से कुछ भी मांगना नहीं है कि ताकत दो, शक्ति दो। बाप तो रास्ता बतलाते हैं – योग बल से ऐसा बनना है। तुम योगबल से इतने साहूकार बनते हो जो 21 जन्म कभी कोई से मांगने की दरकार नहीं। इतना तुम बाप से लेते हो। समझते हो बाबा तो अथाह कमाई कराते हैं, कहते हैं जो चाहो सो ले लो। यह लक्ष्मी-नारायण हैं हाइएस्ट। फिर जो चाहे सो लो। पूरा पढ़ेंगे नहीं तो प्रजा में चले जायेंगे। प्रजा भी जरूर बनानी है। तुम्हारे म्युज़ियम आगे चलकर ढेर हो जायेंगे और तुमको बड़े-बड़े हाल मिलेंगे, कॉलेज मिलेंगे, जिसमें तुम सर्विस करेंगे। यह जो शादियों के लिए हाल बनाते हैं, यह भी तुमको जरूर मिलेंगे। तुम समझायेंगे – शिव भगवानुवाच, मैं तुमको ऐसा पवित्र बनाता हूँ, तो ट्रस्टी हाल दे देंगे। बोलो भगवानुवाच – काम महाशत्रु है, जिससे दु:ख पाया है। अब पावन बन पावन दुनिया में चलना है। तुमको हाल मिलते रहेंगे। फिर कहेंगे टू लेट। बाप कहते हैं मैं ऐसे मुफ्त में थोड़ेही लूंगा जो फिर भरकर देना पड़े। बच्चों के पाई-पाई से तलाव बनता है। बाकी तो सबका मिट्टी में मिल जाना है। बाप सबसे बड़ा सर्राफ भी है। सोनार, धोबी, कारीगर भी है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप जो सच्ची-सच्ची कहानी सुनाते हैं, वह अटेन्शन से सुननी और धारण करनी है, बाप से कुछ भी मांगना नहीं है। 21 जन्मों के लिए अपनी कमाई जमा करनी है।

2) वापस घर चलना है, इसलिए योगबल से शरीर की कशिश समाप्त करनी है। कर्मेन्द्रियों को शीतल बनाना है। इस देह का भान छोड़ने का पुरूषार्थ करना है।

वरदान:- स्वमान की सीट पर सेट हो हर परिस्थिति को पार करने वाले सदा विजयी भव
सदा अपने इस स्वमान की सीट पर स्थित रहो कि मैं विजयी रत्न हूँ, मास्टर सर्वशक्तिमान हूँ – तो जैसी सीट होती है वैसे लक्षण आते हैं। कोई भी परिस्थिति सामने आये तो सेकण्ड में अपने इस सीट पर सेट हो जाओ। सीट वाले का ही ऑर्डर माना जाता है। सीट पर रहो तो विजयी बन जायेंगे। संगमयुग है ही सदा विजयी बनने का युग, यह युग को वरदान है, तो वरदानी बन विजयी बनो।
स्लोगन:- सर्व आसक्तियों पर विजय प्राप्त करने वाले शिव शक्ति पाण्डव सेना हैं।

TODAY MURLI 17 JUNE 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 17 June 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 16 June 2018 :- Click Here

17/06/18
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
12/12/83

The attainment of all powers through concentration.

Today, all of you are stable in the one pure thought of celebrating a meeting, are you not? All to have the one thought at the same time – this power of one concentrated thought is extremely elevated. This power of concentration of the one thought of the gathering enables you to achieve whatever you want. Where there is the power of concentration, all powers are also there. Therefore, concentration is the key to easy success. The power of concentration of even one elevated soul can work wonders. So, just imagine what the power of concentration of many elevated souls in a collective form can achieve! Where there is concentration, there will also naturally be greatness and clarity. Concentration is essential for the invention of anything new, whether it is an invention of the physical world or a spiritual invention. Concentration means to stabilise in one thought; it means to be absorbed in the love of One. Concentration easily frees you from wandering around in many directions. For as long as your power of concentration is stabilised, for that long you will easily have forgotten your body and the physical world, because your whole world for that time is that in which you are totally engrossed. Have you experienced such power of concentration? With the power of concentration you can enable a message to reach any soul; you can invoke any soul; you can catch the sound of any soul; you can give your co-operation to any soul while sitting far away. You do know about this concentration, do you not? Let there be no thought apart from that of the one Father. Let there be the experience of all attainments of the whole world in the one Father. Let there be just the One. To become concentrated by making effort is a different stage. However, to become stabilised in concentration is a very powerful stage. Even one thought in such an elevated stage gives you many experiences of being equal to the Father. Now experiment with this spiritual power and see for yourself. For this, you definitely need the tool of solitude. When you practise this, then, in the final moments when there is upheaval in all directions, when you become lost in the depths of One, you will then experience solitude in the midst of upheaval.

However, this practice is needed over a long time, for only then will you experience yourself to be in solitude even though there may be many types of upheaval all around you. At the present time, it is extremely essential to become an image of experience with such incognito powers. Even now, all of you consider yourselves to be very busy, but you are still free at present. As you make further progress, you will get even busier. Therefore, at present you can practise and make spiritual endeavour for yourself in many different ways. While walking and moving around, whatever time you can make for yourself, always use that in a worthwhile way to practise this for yourself. Day by day, due to the atmosphere, there will be more emergency cases. At present, you give them medicine quite comfortably. Later, however, because of the emergency cases, you will have to deal with more cases in a short time and with less power. Since you issue the challenge that there is only one hospital for the world where you can become free from disease for all time, where will all the diseased people from everywhere go? There will be a line of emergency cases. What will you do at that time? You will give them the blessing of being immortal, will you not? With the oxygen of self-practice, you will have to give them the breath of courage. Many hopeless cases, that is, those who have become disheartened by everything, will come. To give courage to such hopeless souls is to give them breath. You will have to give oxygen immediately. Will you be able to make such souls powerful on the basis of the practice you have had for yourself? So, don’t say that you don’t have time. It is now that you have time, but later, you won’t have any time. You even tell people that you won’t find time, but you will have to make time. You tell them this, do you not? Therefore, for self-practice too, don’t say that you will practise if you have time. You will have to make time. One special method has continued from the beginning of establishment. What is that? To fill a lake, drop by drop. This is the method to adopt for time too. By practising this for whatever time you have, you will become an ocean, an embodiment of all types of practice. Even if you just have a second, keep accumulating them for your practice. Just imagine how much you will accumulate even second by second! If you collect all of that together, it could even make half an hour. Become those who practise while walking and moving around. Just as a chatrak bird is thirsty for every drop, in the same way, if you chatraks who practise for yourselves use every second to practise this, you will become embodiments of that practice.

Don’t become careless in practising for yourself because, at the end, there will be a need for special powers. You are going to receive numbers on the basis of those practical papers. Therefore, in order to claim a number in the first division, let your practice for yourself be fast. In that too, especially continue to practise with the power of concentration. There may be upheaval somewhere but you must stay concentrated. To be concentrated in a place or situation of silence is an ordinary thing, but you must become lost in the depths of One in the midst of upheaval in all directions, that is, you must become those who remain in solitude. To be in solitude and stabilise yourself in concentration is the great effort of maharathis. This is a very easy method for the new children. Just remember one thing and tell everyone one thing. So, it is not difficult to remember one thing and tell everyone just one thing, is it? If there are many things, you forget them, but if there is just one thing, you won’t forget. Continue to praise just the One. Continue to sing songs of One and continue to give the introduction of the One. This is easy, is it not? Or, is even this difficult? Where there is one (ek), your stage automatically becomes constant (ekras). What else do you need? You only want a constant stage. So simply remember the word “One”. Simply sing songs of One and remember One. It is so easy! Baba is showing you new children an easy short-cut way, so that you can reach there quickly. This is what you want, is it not? You have come later and you want to go ahead and so this is the short-cut way. If you continue to follow this path you will get there ahead. The mothers want everything to be easy because you have become very tired from your many births and so you want everything easy. You have wandered around so much. For 63 births, you have wandered around so much. Therefore, the souls who have been wandering around want an easy path. By adopting an easy path you will definitely reach your destination. Do you understand? Achcha.

New ones are sitting here and maharathis are also sitting here; both are in front of Baba. Gujarat is the closest of all. Together with being close, it is those from Gujarat who are co-operative. In terms of co-operation, Gujarat claims a number ahead of Rajasthan. Abu is in Rajasthan. In fact, Rajasthan is closer, is it not? If the kings of Rajasthan wake up, they can perform wonders. They are still incognito, but they will be revealed later. Do you know how Gujarat was born? Gujarat was first given co-operation. The seed was sown with the water of co-operation. So the fruit will also be that of co-operation, will it not? Gujarat has directly received the water of the co-operation of thought from BapDada. So, the fruit that emerges from that is that of co-operation. Do you understand? Those from Gujarat are so fortunate! BapDada opened a centre in Gujarat. Gujarat did not open it. This is why, even against your conscious wish, the fruit of co-operation will continue to emerge. You will not have to make effort. You will not need to make effort in any task. The land is that of the fruit of co-operation. Achcha.

To all the chatraks who practise for themselves, to the souls who stay in solitude and have powerful concentration, to those who, with the power of their own practice, make all disheartened souls constantly happy hearted, to those who use all the powers in a practical way, to such elevated souls who practise on themselves, to the elevated souls who have a right to self-sovereignty, to all such mahavirs and all the new children, everyone, BapDada’s love, remembrance and namaste.

Someone comes and someone goes. This is the mela of coming and going. BapDada is pleased to see all the children. Whether you are new or old, whether you know the language or not, whether you understand the murli or not, you still belong to the Father. You still come here with love. What is the Father hungry for? Love. He is not hungry for common sense. The Father sees the love – the love of the heart. To the extent that you are innocent, you have true love – not love out of cleverness. This is why the innocent children are loved the most. Just as He has the title of being knowledge-full, So He also has the title of being the Innocent Lord. There is the memorial of both. New children have very good loving feelings. Achcha.

Avyakt BapDada’s personal meeting with groups:

Do you constantly consider yourselves to be doublelight angels? An angel means one who is double light. The more lightness you have, the more you will experience yourself to be an angel. Angels will always sparkle, and because of the sparkle, angels automatically attract others to themselves. Angels are those who have no relationship with bodies or the physical world. They are in bodies for the sake of service and not on the basis of their relationships. Angels don’t live on the basis of their bodily relationships, but in terms of the relationship of service. They don’t live in a household thinking about relationships, but they live there considering it to be service. It is the same home and the same family but there is the relationship of service. You do not live there under the influence of any bondage of karma. There are no questions of “What?” or “Why?” in relationships of service. No matter what souls are like, the relationship of service is lovely. Where there is the body, there are vices. Vices come due to the relationship of the body; if there is no relationship of the body, there are no vices. If you look at any soul with the relationship of service, there will be no creation of vices. Live as such angels, not as relatives. When there is the feeling to serve, there are always pure feelings; there are no other feelings. This is called being extremely detached and loving, like a lotus. Become an angel, the highest of all human beings, and you will become a deity.

Do all of you move along whilst considering yourselves to be the carefree emperors who experience the world of happiness and are beyond all types of sorrow? Previously, you were experienced in the world of sorrow whereas you have now come away from the world of sorrow and experience the world of happiness. By receiving one mantra of happiness now, your sorrow has ended. You are souls who are embodiments of happiness and who belong to the Bestower of Happiness. You are the children of the Father, the Ocean of Happiness. This is the mantra you have been given. Since your mind is focused on the Father, how can there be sorrow? When you focus your mind on anything other than the Father, it experiences sorrow. If you are “Manmanabhav”, there can be no sorrow. So, is your mind directed towards the Father or somewhere else? You feel sorrow when your mind is on the wrong path. Since the path is straight, why do you go onto the wrong path? If someone goes onto a forbidden path, even the Government will impose a fine. Since the path has been closed why do you go there? Since you say: The body is Yours, the mind is Yours and the wealth is Yours, it doesn’t belong to me, then how can there be sorrow? If it truly is “Yours”, there is no sorrow. If it is “mine”, there is sorrow. By saying, “Yours, Yours”, it truly becomes “Yours”.

Are you constantly with one Strength and one Support? To have faith in the One means to attain power. Do you experience this? Those whose intellects have faith are victorious. In other words, this is also called: one Strength and one Support. It is not possible that those whose intellects have faith would not be victorious. If you have even the slightest doubt in yourself as to whether something will be achieved or not, then there is no victory. Only when there is full faith in yourself, the Father and the drama, is it impossible for you not to have victory. If there isn’t victory, there is definitely faith lacking in one point or another. If you have faith in the Father, you also have faith in yourself. You are the masters, are you not? Since you are master almighty authorities, you see everything of the drama with faith in your intellects. Children whose intellects have such faith will always have the enthusiasm of their victory being guaranteed. Only such victorious children become beads of the rosary of victory. Victory is their inheritance. You attain this inheritance as your birthright.

Meeting mothers:

BapDada always salutes the mothers because it is always you mothers who have stepped forward in service. BapDada sings praise of the mothers. You have become such elevated mothers that even BapDada is pleased to see you. Simply remain constantly happy by keeping this fortune in your awareness. Let songs of happiness be constantly be playing in your mind. What other work do mothers have to do? Since you have become Brahmins, you just have to sing and dance; that is all you have to do. Dance in your mind and sing songs in your mind. If each one of you world mothers ignites one lamp, how many lamps would be ignited? The mothers of the world are igniting the lamps of the world and as the lamps are ignited, so the rosary of lamps will be created. Achcha.

Question: What is an easy way to do service, or an easy method or make effort to attract everyone?

Answer: A cheerful face. Those who are constantly cheerful automatically attract everyone and easily become instruments for service. Cheerfulness is a sign of happiness. When people see a happy face, they automatically ask what you have attained or what you have found. So, remain constantly happy about what you were and what you have become. Service will continue to take place through this.

Question: What is the meaning of a tilak? By having which tilak will you remain constantly intoxicated and happy?

Answer: The meaning of a tilak is to be an embodiment of remembrance. So, always have the awareness that you are seated on a throne. We are those long-lost and now-found souls who claimed a right to God’s throne. By having this tilak you will be constantly happy and intoxicated. It is said: Throne and fortune. You have received the fortune of being seated on the throne. So, constantly have the intoxication and happiness that you are the souls who constantly have the elevated throne and the fortune.

Blessing: May you be true moths and surrender yourselves to the Flame and finish all the circling around with remembrance and service.
The children who always keep busy in remembrance and service easily become free from all the types of circling around. If there is still any type of circling around, you will then continue to circle around. It may be the circling of relationships or something of your own nature and sanskars. All of this wasteful circling around will finish when you do not have anyone except the one Flame in your intellect. Those who surrender themselves to the Flame become equal to the Flame. Those who surrender themselves in this way are true moths.
Slogan: Souls like iron become like gold when they come into the company of those who are true gems.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 17 JUNE 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 17 June 2018

To Read Murli 16 June 2018 :- Click Here
17-06-18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 12-12-83 मधुबन

एकाग्रता से सर्व शक्तियों की प्राप्ति

आज सभी मिलन मनाने के एक ही शुद्ध संकल्प में स्थित हो ना! एक ही समय, एक ही संकल्प – यह एकाग्रता की शक्ति अति श्रेष्ठ है। यह संगठन की एक संकल्प के एकाग्रता की शक्ति जो चाहे वह कर सकती है। जहाँ एकाग्रता की शक्ति है वहाँ सर्व शक्तियां साथ हैं इसलिए एकाग्रता ही सहज सफलता की चाबी है। एक श्रेष्ठ आत्मा की एकाग्रता की शक्ति भी कमाल कर दिखा सकती है, तो जहाँ अनेक श्रेष्ठ आत्माओं के एकाग्रता की शक्ति संगठित रूप में है, वह क्या नहीं कर सकती। जहाँ एकाग्रता होगी वहाँ श्रेष्ठता और स्पष्टता स्वत: होगी। किसी भी नवीनता की इन्वेन्शन के लिए एकाग्रता की आवश्यकता है। चाहे लौकिक दुनिया की इन्वेन्शन हो, चाहे आध्यात्मिक इन्वेन्शन हो। एकाग्रता अर्थात् एक ही संकल्प में टिक जाना। एक ही लगन में मगन हो जाना। एकाग्रता अनेक तरफ भटकाना सहज ही छुड़ा देती है। जितना समय एकाग्रता की स्थिति में स्थित होंगे उतना समय देह और देह की दुनिया सहज भूली हुई होगी क्योंकि उस समय के लिए संसार ही वह होता है, जिसमें ही मगन होते। ऐसे एकाग्रता की शक्ति के अनुभवी हो? एकाग्रता की शक्ति से किसी भी आत्मा का मैसेज उस आत्मा तक पहुँचा सकते हो। किसी भी आत्मा का आह्वान कर सकते हो। किसी भी आत्मा की आवाज को कैच कर सकते हो। किसी भी आत्मा को दूर बैठे सहयोग दे सकते हो। वह एकाग्रता जानते हो ना! सिवाए एक बाप के और कोई भी संकल्प न हो। एक बाप में सारे संसार की सर्व प्राप्तियों की अनुभूति हो। एक ही एक हो। पुरुषार्थ द्वारा एकाग्र बनना वह अलग स्टेज है। लेकिन एकाग्रता में स्थित हो जाना, वह स्थिति इतनी शक्तिशाली है। ऐसी श्रेष्ठ स्थिति का एक संकल्प भी बाप समान का बहुत अनुभव कराता है। अभी इस रूहानी शक्ति का प्रयोग करके देखो। इसमें एकान्त का साधन आवश्यक है। अभ्यास होने से लास्ट में चारों ओर हंगामा होते हुए भी आप सभी एक के अन्त में खो गये तो हंगामे के बीच भी एकान्त का अनुभव करेंगे। लेकिन ऐसा अभ्यास बहुत समय से चाहिए तब ही चारों ओर के अनेक प्रकार के हंगामे होते हुए भी आप अपने को एकान्तवासी अनुभव करेंगे। वर्तमान समय ऐसे गुप्त शक्तियों द्वारा अनुभवी-मूर्त बनना अति आवश्यक है। आप सभी अभी भी अपने को बहुत बिज़ी समझते हो लेकिन अभी फिर भी बहुत फ्री हो। आगे चल और बिज़ी होते जायेंगे इसलिए ऐसे भिन्न-भिन्न प्रकार के स्व अभ्यास, स्व-साधना अभी कर सकते हो। चलते-फिरते स्व प्रति जितना भी समय मिले अभ्यास में सफल करते जाओ। दिन-प्रतिदिन वातावरण प्रमाण एमर्जेन्सी केसेज़ ज्यादा आयेंगे। अभी तो आराम से दवाई कर रहे हो। फिर तो एमर्जेन्सी केसेज में समय और शक्तियां थोड़े समय में ज्यादा केसेज करने पड़ेंगे। जब चैलेन्ज करते हो कि अविनाशी निरोगी बनने की एक ही विश्व की हॉस्पिटल है तो चारों ओर के रोगी कहाँ जायेंगे। एमर्जेन्सी केसेज़ की लाइन होगी। उस समय क्या करेंगे? अमर भव का वरदान तो देंगे ना। स्व अभ्यास के आक्सीजन द्वारा साहस का श्वास देना पड़ेगा। होपलेस केस अर्थात् चारो ओर के दिलशिकस्त के केसेज़ ज्यादा आयेंगे। ऐसी होपलेस आत्माओं को साहस दिलाना, यही श्वांस भरना है। तो फटाफट आक्सीजन देना पड़ेगा। उस स्व अभ्यास के आधार पर ऐसी आत्माओं को शक्तिशाली बना सकेंगे! इसलिए फुर्सत नहीं है, यह नहीं कहो। फुर्सत है तो अभी है फिर आगे नहीं होगी। जैसे लोगों को कहते हो फुर्सत मिलेगी नहीं, लेकिन फुर्सत करनी पड़ेगी। समय मिलेगा नहीं लेकिन समय निकालना है। ऐसे कहते हो ना! तो स्व अभ्यास के लिए भी समय मिले तो करेंगे, नहीं। समय निकालना पड़ेगा। स्थापना के आदिकाल से एक विशेष विधि चलती आ रही है। कौन सी? फुरी-फुरी तालाब (बूंद-बूंद से तालाब) तो समय के लिए भी यही विधि है। जो समय मिले अभ्यास करते-करते सर्व अभ्यास स्वरूप सागर बन जायेंगे। सेकण्ड मिले, वह भी अभ्यास के लिए जमा करते जाओ, सेकण्ड-सेकण्ड करते कितना हो जायेगा! इकट्ठा करो तो आधा घण्टा भी बन जायेगा। चलते-फिरते के अभ्यासी बनो। जैसे चात्रक एक-एक बूंद के प्यासे होते हैं। ऐसे स्व अभ्यासी चात्रक एक-एक सेकण्ड अभ्यास में लगावें तो अभ्यास स्वरूप बन ही जायेंगे।

स्व अभ्यास में अलबेले मत बनो क्योंकि अन्त में विशेष शक्तियों के अभ्यास की आवश्यकता है। उसी प्रैक्टिकल पेपर्स द्वारा ही नम्बर मिलने हैं इसलिए फर्स्ट डिवीजन लेने के लिए स्व अभ्यास को फास्ट करो। उसमें भी एकाग्रता के शक्ति की विशेष प्रैक्टिस करते रहो। हंगामा हो और आप एकाग्र हो। साइलेन्स के स्थान और परिस्थिति में एकाग्र होना यह तो साधारण बात है, लेकिन चारों प्रकार की हलचल के बीच एक के अन्त में खो जाओ अर्थात् एकान्तवासी हो जाओ। एकान्तवासी हो एकाग्र स्थिति में स्थित हो जाओ – यह है महारथियों का महान पुरुषार्थ। नये-नये बच्चों के लिए तो बहुत सहज साधन है। एक ही बात याद करो और एक ही बात सभी को सुनाओ। तो एक बात याद करना वा सुनाना मुश्किल तो नहीं है ना। बहुत बातें तो भूल जाते हो लेकिन एक बात तो नहीं भूलेगी। एक ही की महिमा करते रहो, एक के ही गीत गाते रहो और एक का ही परिचय देते रहो। यह तो सहज है ना कि यह भी मुश्किल है। जहाँ एक है वहाँ एकरस स्थिति स्वत: बन जाती है। और चाहिए ही क्या! एकरस स्थिति ही चाहिए ना। तो बस एक शब्द याद रखो। एक का गीत गाना है, एक को याद करना है, कितना सहज है? नये-नये बच्चों के लिए सहज शार्टकट रास्ता बता रहे हैं। तो जल्दी पहुँच जायेंगे। यही चाहते हो ना। आये पीछे हैं लेकिन जावें आगे, तो यही शार्टकट रास्ता है, इससे चलो तो आगे पहुंच जायेंगे। माताओं को तो सब बातों में सहज चाहिए ना क्योंकि बहुत थकी हुई हैं, जन्म-जन्म की, तो सहज चाहिए। कितने भटके हो! 63 जन्मों में कितने भटके हो! तो भटकी हुई आत्माओं को सहज मार्ग चाहिए। सहज मार्ग अपनाने से मंजिल पर पहुँच ही जायेंगे। समझा, अच्छा।

नये भी बैठे हैं और महारथी भी बैठे हैं। दोनों सामने हैं। सबसे ज्यादा समीप गुजरात है ना। समीप के साथ सहयोगी भी गुजरात वाले हैं। सहयोग में गुजरात का नम्बर राजस्थान से आगे हैं। आबू राजस्थान है, वैसे राजस्थान नजदीक है ना। राजस्थान के राजे भी जागें तो कमाल करेंगे। अभी गुप्त हैं। फिर प्रत्यक्ष हो जायेंगे। गुजरात का जन्म कैसे हुआ, पता है? गुजरात को पहले सहयोग दिया गया। सहयोग के जल से बीज पड़ा हुआ है। तो फल भी सहयोग का ही निकलेगा ना। गुजरात को डायरेक्ट बापदादा के संकल्प के सहयोग का पानी मिला है इसलिए फल भी सहयोग का ही निकलता है। समझा! गुजरात वाले कितने भाग्यवान हो! गुजरात में बापदादा ने सेन्टर खोला है। गुजरात ने नहीं खोला है इसलिए न चाहते हुए भी सहज ही सहयोग का फल निकलता ही रहेगा। आपको मेहनत नहीं करनी पड़ेगी। किसी भी कार्य में आपको मेहनत नहीं करनी पड़ेगी। धरनी सहयोग के फल की है। अच्छा!

सभी स्व अभ्यास के चात्रकों को, सदा एकान्तवासी, एकाग्रता की शक्तिशाली आत्माओं को, सदा स्व अभ्यास के शक्तियों द्वारा सर्व को दिलशिकस्त से सदा दिल खुश बनाने वाले, सदा सर्व शक्तियों को प्रैक्टिकल में लगाने वाले, ऐसी श्रेष्ठ स्व अभ्यासी, स्वराज्य अधिकारी श्रेष्ठ आत्माओं को, महावीरों को और नये-नये बच्चों को, सभी को बापदादा का याद-प्यार और नमस्ते।

एक आते और एक जाते। आने जाने का मेला है। बापदादा तो सभी बच्चों को देख खुश होते हैं। नये हैं, चाहे पुराने हैं, भाषा जानते हैं वा नहीं जानते हैं, मुरली समझते हैं वा नहीं समझते हैं, लेकिन हैं तो बाप के। फिर भी प्यार से पहुँच जाते हैं। बाप किस बात का भूखा है? प्यार का। समझदारी का भूखा नहीं। बाप प्यार देखते हैं, दिल का प्यार है। जितना ही भोले-भाले हैं उतना ही सच्चा प्यार है, चतुराई का प्यार नहीं है इसलिए भोले भाले बच्चे सबसे प्रिय हैं। जैसे नॉलेजफुल का टाइटिल है वैसे भोलानाथ का भी टाइटिल है, दोनों का यादगार है, नये-नये बच्चे भावना वाले अच्छे हैं। अच्छा-

पार्टियों के साथ अव्यक्त बापदादा की पर्सनल मुलाकात

1. सदा अपने को डबल लाइट फरिश्ता समझते हो? फरिश्ता अर्थात् डबल लाइट। जितना-जितना हल्का-पन होगा उतना स्वयं को फरिश्ता अनुभव करेंगे। फरिश्ता सदा चमकता रहेगा, चमकने के कारण सर्व को अपनी तरफ स्वत: आकर्षित करता है। ऐसे फरिश्ते जिसका देह और देह की दुनिया के साथ कोई रिश्ता नहीं। शरीर में रहते ही हैं सेवा के अर्थ, न कि रिश्ते के आधार पर। देह के रिश्ते के आधार पर नहीं रहते, सेवा के सम्बन्ध के हिसाब से रहते हो। सम्बन्ध समझकर प्रवृत्ति में नहीं रहना है, सेवा समझकर रहना है। घर वही है, परिवार वही है, लेकिन सेवा का सम्बन्ध है। कर्मबन्धन के वशीभूत होकर नहीं रहते। सेवा के सम्बन्ध में क्या, क्यूं नहीं होता। कैसी भी आत्मायें हैं, सेवा का सम्बन्ध प्यारा है। जहाँ देह है वहाँ विकार हैं। देह के सम्बन्ध से विकार आते हैं, देह का सम्बन्ध नहीं तो विकार नहीं। किसी भी आत्मा को सेवा के सम्बन्ध से देखो तो विकारों की उत्पत्ति नहीं होगी। ऐसे फरिश्ते होकर रहो। रिश्तेदार होकर नहीं। जहाँ सेवा का भाव रहता है वहाँ सदा शुभ भावना रहती है, और कोई भाव नहीं। इसको कहा जाता है अति न्यारा और अति प्यारा, कमल समान। सर्व पुरुषों से उत्तम फरिश्ता बनो तब देवता बनेंगे।

2. सभी बेगमपुर के बादशाह, गमों से परे सुख के संसार का अनुभवी समझते हुए चलते हो? पहले दु:ख के संसार के अनुभवी थे, अभी दु:ख के संसार से निकल सुख के संसार के अनुभवी बन गये। अभी एक सुख का मंत्र मिलने से दु:ख समाप्त हो गया। सुखदाता की सुख स्वरूप आत्मायें हैं, सुख के सागर बाप के बच्चे हैं, यही मंत्र मिला है। जब मन बाप की तरफ लग गया तो दु:ख कहाँ से आया। जब मन को बाप के सिवाए और कहाँ लगाते हो तब मन का दु:ख होता। मनमनाभव हैं तो दु:ख नहीं हो सकता। तो मन बाप की तरफ है या और कहाँ हैं? उल्टे रास्ते पर लगता है तब दु:ख होता है। जब सीधा रास्ता है तो उल्टे पर क्यों जाते हो? जिस रास्ते पर जाने की मना है उस रास्ते पर कोई जाए तो गवर्मेन्ट भी दण्ड डालेगी ना। जब रास्ता बन्द कर दिया तो क्यों जाते हो? जब तन भी तेरा, मन भी तेरा, धन भी तेरा, मेरा है ही नहीं तो दु:ख कहाँ से आया। तेरा है तो दु:ख नहीं। मेरा है तो दु:ख है। तेरा-तेरा करते तेरा हो गया।

3. सदा एकबल और एक भरोसा, इसी स्थिति में रहते हो? एक में भरोसा अर्थात् बल की प्राप्ति। ऐसे अनुभव करते हो? निश्चयबुद्धि विजयी, इसी को दूसरे शब्दों में कहा जाता है – एक बल, एक भरोसा। निश्चय बुद्धि की विजय न हो, यह हो नहीं सकता। अपने में ही जरा-सा संकल्प मात्र भी संशय आता कि यह होगा या नहीं होगा, तो विजय नहीं। अपने में, बाप में और ड्रामा में पूरा-पूरा निश्चय हो तो कभी विजय न मिले यह हो नहीं सकता। अगर विजय नहीं होती तो जरूर कोई न कोई प्वाइन्ट में निश्चय की कमी है। जब बाप में निश्चय है तो स्वयं में भी निश्चय है। मास्टर है ना। जब मास्टर सर्व-शक्तिमान हैं तो ड्रामा की हर बात को भी निश्चय-बुद्धि होकर देखेंगे। ऐसे निश्चय बुद्धि बच्चों के अन्दर सदा यही उमंग होगा कि मेरी विजय तो हुई पड़ी है। ऐसे विजयी ही विजय माला के मणके बनते हैं। विजय उनका वर्सा है। जन्म-सिद्ध अधिकार में यह वर्सा प्राप्त हो जाता है।

माताओं से मुलाकात

बापदादा भी माताओं को सदा ही नमस्कार करते हैं क्योंकि माताओं ने सदा सेवा में आगे कदम रखा है। बापदादा माताओं के गुण गाते हैं, कितनी श्रेष्ठ मातायें बन गई, जो बापदादा भी देख हर्षित होते हैं। बस सदा अपने इसी भाग्य को स्मृति में रख खुश रहो। मन में खुशी का गीत सदा बजता रहे और माताओं को काम ही क्या है! ब्राह्मण बन गये तो गाना और नाचना यही काम है। मन से नाचो, मन से गीत गाओ। एक-एक जगत माता अगर एक-एक दीपक जगाये तो कितने दीपक जग जायेंगे। जग की मातायें जग के दीपक जगा रही हो ना। दीपक जगते-जगते दीपमाला हो ही जायेगी। अच्छा।

प्रश्न:- सेवा का सहज साधन, सर्व को आकर्षित करने का सहज साधन वा पुरुषार्थ कौन सा है?

उत्तर:- हर्षितमुख चेहरा। जो सदा हर्षित रहता है वह स्वत: ही सर्व को आकर्षित करता है और सहज ही सेवा के निमित्त भी बन जाता है। हर्षितमुखता खुशी की निशानी है। खुशी का चेहरा देख स्वत: पूछेंगे क्या पाया, क्या मिला! तो सदा खुशी में रहो क्या थे, क्या बन गये, इससे ही सेवा होती रहेगी।

प्रश्न:- तिलक का अर्थ क्या है? किस तिलक को धारण करो तो सदा नशे और खुशी में रहेंगे?

उत्तर:- तिलक का अर्थ है स्मृति स्वरूप। तो सदा स्मृति रहे कि हम तख्तनशीन हैं। हम वह सिकीलधी आत्मायें हैं जो प्रभु तख्त के अधिकारी बनी हैं। इस तिलक को धारण करने से सदा खुशी और नशे में रहेंगे। वैसे भी कहा जाता है तख्त और बख्त। तख्तनशीन बनने का बख्त अर्थात् भाग्य मिला। तो सदा श्रेष्ठ तख्त और बख्त वाली आत्माएं हैं, यही नशा और खुशी सदा रहे।

वरदान:- याद और सेवा द्वारा सब चक्करों को समाप्त कर शमा पर फिदा होने वाले सच्चे परवाने भव 
जो बच्चे याद और सेवा में सदा बिजी रहते हैं वह सभी चक्करों से सहज ही मुक्त हो जाते हैं। कोई भी चक्र रहा हुआ होगा तो चक्कर ही लगाते रहेंगे। कभी सम्बन्धों का चक्कर, कभी अपने स्वभाव संस्कार का चक्कर, ऐसे व्यर्थ के सभी चक्कर समाप्त तब होंगे जब बुद्धि में सिवाए शमा के और कुछ भी न हो। शमा पर फिदा होने वाले शमा के समान बन जाते हैं। ऐसे फिदा होने वाले अर्थात् समा जाने वाले ही सच्चे परवाने हैं।
स्लोगन:- जो सच्चे पारस बने हैं उनके संग में लोहे सदृश्य आत्मायें भी सोना बन जाती हैं।
Font Resize