17 july ki murli

TODAY MURLI 17 JULY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 17 July 2020

17/07/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you now have the essence of the full knowledge in your intellects, so you don’t even need any pictures. Remember the Father and also remind others to remember Him.
Question: What knowledge will remain in the intellects of you children in the final period?
Answer: At that time, your intellects will only have the knowledge of your returning home. Then, from there, you will go down into the cycle. You will gradually come down the ladder and then the Father will come to make your stage ascend. You now know that, firstly, you belonged to the sun dynasty and that you then become part of the moon dynasty etc. There is no need for pictures in this.

Om shanti. Children, are you sitting here in soul consciousness? You have the knowledge of the cycle of 84 births in your intellects, that is, you have the knowledge of your variety of births. There is the picture of the variety-form image. You children also have the knowledge of how you take 84 births. You first come from the incorporeal world into the deity religion. You have this knowledge in your intellects, so there is no need for any pictures. We don’t have to remember any images etc. At the end, the only thing each of you will remember is that you are a soul, a resident of the incorporeal world, and that you play your part here. You mustn’t forget this. These matters of the cycle of the human world are very simple. There is absolutely no need for pictures in this because all of those pictures etc. are things that belong to the path of devotion. On the path of knowledge there is study. There is no need for those pictures on the path of knowledge. Those pictures have simply been corrected. For example, they say that the God of the Gita is Shri Krishna whereas we say that it is Shiva. This is also something to be understood with the intellect. The knowledge that we have been around the cycle of 84 births remains in your intellects. We now have to become pure. We will become pure and then start to go around the cycle again. This is the knowledge, in essence, which you must keep in your intellects. Just as the Father’s intellect has the knowledge of the history and geography of the world, and how the cycle of 84 births turns, so you, too, have the knowledge of how you first go into the sun dynasty and then the moon dynasty. There is no need for pictures. They have simply been created in order to explain to other human beings. On the path of knowledge the Father simply says: Manmanabhav! There is the four-armed image and the image of Ravan. They have to be shown in order for you to explain them. Your intellects have accurate knowledge. You can still explain without pictures. You have the cycle of 84 births in your intellects. It is easier to explain with pictures, but there is really no need for them. Your intellects are aware that you previously belonged to the sun dynasty and then the moon dynasty. There is a lot of happiness there; it is called heaven. This is explained using the pictures. At the end, this is the knowledge you will have in your intellects: We are now returning home, and we will then go into the cycle again. You explain to people using the picture of the ladder so that it is easy for them to understand. Your intellects also have the knowledge of how you come down the ladder. Then, the Father comes and makes your stage ascend. The Father says: I explain the essence of these pictures to you. There is the picture of the cycle. You can explain that this cycle is 5000 years. If it were hundreds of thousands of years, the population would increase so much. For the Christians, it is shown to be 2000 years since Christ came. There are so many human beings in that. In 5000 years there would be so many human beings. You show the full calculation. In the golden age, because they are pure, there are only a few people there. Now there are so many. If the duration of the golden age were hundreds of thousands of years, that population would be countless. They calculate the population of Christians to be greater than the population of Hindus. Many Hindus became Christians… Good sensible children are able to explain this without using pictures. Just think how many human beings there are at present and how few human beings there will be in the new world. It is now the old world in which there are so many human beings. Then, how is the new world established? Who establishes the new world? Only the Father explains this. He alone is the Ocean of Knowledge. You children just have to keep the cycle of 84 births in your intellects. We are now going from hell to heaven. Therefore, there should be that happiness inside you, should there not? In the golden age there is no question of sorrow. Nothing is lacking there for which you would have to make effort to attain. Here, you have to make effort. You say: I want this machine. I want that thing. All kinds of happiness exist there, just as maharajas have all kinds of happiness here. The poor don’t have all the kinds of happiness. However, this is the iron age, which is why there are all the various illnesses etc. You are now making effort to go to the new world. Heaven and hell exist here. The fun and games you have in the subtle region are just to pass the time. All of those fun and games are to pass the time until you reach your karmateet stage. Once you reach your karmateet stage, that’s it! You will only remember that you, the soul, have completed your cycle of 84 births and that you are now going home. Then you will go into the satopradhan world and play your satopradhan part. You have this knowledge in your intellects. Therefore, there is no need for pictures etc. A barrister studied so much to become a barrister. The lessons he has studied are then all over. He earns his reward as a result. You also study and will then go there and rule. There is no need there for this knowledge. Your intellects are now aware of what is wrong and what is right about these pictures. The Father sits here and explains who Lakshmi and Narayan are and who Vishnu is. People become confused on seeing the picture of Vishnu. To worship someone without knowing him is senseless. They don’t understand anything. Just as they don’t know Vishnu, so they don’t know Lakshmi or Narayan either; nor do they know about Brahma, Vishnu or Shankar. Brahma exists here but, when he becomes pure, he leaves his body and goes there. There is disinterest in this old world. The karmic bondages here cause sorrow. The Father now says: Return home! There, there will be no name or trace of sorrow. First of all, you were in your home. Then you entered your kingdom. The Father has now come once again to purify you. At this time, the food and drink etc. of human beings is so dirty! Look what they continue to eat! The deities there don’t eat such dirty food. Look what the path of devotion is like. They even sacrifice human beings. The Father says: This drama is predestined. The old world definitely has to become new again. You know that you are now becoming satopradhan. Your intellects understand this, do they not? If there were no pictures here, it would be even better. Otherwise human beings ask too many questions. The Father has explained the cycle of 84 births to you. We become the sun dynasty, then the moon dynasty and then the merchant dynasty. We take so many births in each dynasty. Keep this in your intellects! You children understand the secret of the subtle region. You go to the subtle region in trance, but there is nothing of yoga or knowledge in that. That is just a system. It has been explained how a soul is invoked and how, when that soul comes, he cries and repents for not listening to the Father while he was here. All of this is being explained to you children so that you remain busy in making effort and not becoming careless. You children must always pay attention that you use your time in a worthwhile way and don’t waste it. Maya will not then be able to make you make mistakes. Baba also continues to explain: Children, don’t waste time! Make effort to show this path to many others! Become great donors! Remember the Father and your sins will be absolved! Explain to whoever comes here and tell them about the cycle of 84 births. The knowledge of how the history and geography of the world repeat and how the cycle turns should all be in your intellects in a nutshell. You children should remain happy that you are now being liberated from this dirty world. Human beings believe that heaven and hell both exist here together. Those who have a lot of wealth believe that they are in heaven. They had performed some good deeds and have therefore received happiness. You are now performing very good deeds. Therefore, you will receive happiness for 21 births. Those people believe themselves to be in heaven for one birth. The Father says: Their happiness is temporary. Your happiness lasts for 21 births. It is for this that the Father says: Continue to show this path to everyone. It is only by having remembrance of the Father that you will become free from disease and the masters of the world. In heaven, there is the kingdom. Remember that too. That kingdom did exist, but it doesn’t exist now. This only applies to Bharat. All the rest are byplots. At the end, everyone will return home. We will then go to the new world. There is no need for pictures to explain this. The picture of the incorporeal world and the subtle region has been created in order to explain them. It is explained that it was those on the path of devotion who created those pictures. Therefore, we have to correct them. Otherwise, they would say that we are atheists. This is why we create them with the proper corrections. Establishment through Brahma and destruction through Shankar are, in fact, fixed in the drama. No one really does anything. Scientists create everything with their own intellects. No matter how much someone tells them not to manufacture any more bombs, they would only stop doing that when those who have many bombs dispose of them in the sea. Since those bombs are being kept, more bombs will surely be manufactured by others. You children understand that the world is now definitely going to be destroyed. The war will definitely take place. Destruction will take place and you will claim your own kingdom. The Father says: Now become benevolent to everyone. The Father gives you children shrimat for you to make your fortune elevated. He says: Sweet children, use everything you have in a worthwhile way in the name of the Lord. Some people’s wealth will be buried underground; some people’s wealth will be looted by the Government. The Lord Himself says: Children, use your money here by opening a spiritual universitycumhospital and many will be benefited. Use it in the name of the Lord and you will receive the return of that for 21 births. This world is to be destroyed. Therefore, use everything as much as possible in a worthwhile way in the name of the Lord. Shiv Baba is the Lord. On the path of devotion too, you used to donate in the name of the Lord. You are now doing this directly. Continue to open big universities in the name of the Lord and many will be benefited. You will claim your fortune of the kingdom for 21 births. Otherwise, all of that wealth and prosperity etc. will be destroyed. It is not destroyed on the path of devotion. Now, everything is to be destroyed. Use it now and you will receive the return of it. Bring benefit to everyone in the name of the Lord and you will receive the inheritance for 21 births. It is explained to you so clearly. However, those who have it in their fortune will continue to use it in this way. You also have to look after your household. This one’s (Baba’s) part was like that. He had the powerful intoxication: Baba is giving me the sovereignty. Therefore, what would I do with this “donkeyship? All of you are sitting here to claim the sovereignty. Therefore, follow him! You know how he renounced everything. He had so much intoxication that he was going to receive that sovereignty. The first partner found Allah. Therefore he gave his kingdom (business) to his business partner. He had a kingdom; he was no less! His business was very fertile (prosperous). You are now to receive your sovereignty. Therefore, bring benefit to many. The bhatthi was created. Some came out fully baked and ready, whereas others remained weak. When paper banknotes made by the Government don’t turn out right, they all have to be burnt. In earlier days, there used to be silver rupees; there was a lot of gold and silver. Look what is happening now! Some people’s wealth is looted by the Government. That of others is looted by robbers. Look how much looting and robbery there is! There will also be famine. This is the kingdom of Ravan. The golden age is called the kingdom of Rama. The Father says: You were made so elevated! So, how come you have become so impoverished? You children have now received so much knowledge. Therefore, there should be great happiness. Day by day, your happiness will increase. The closer you come in your pilgrimage, the greater the happiness you will feel. You know that the land of peace and the land of happiness are just standing ahead. You can see the trees of Paradise. That’s all! We have now almost reached there. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Pay attention to using your time in a worthwhile way. In order to be certain that Maya doesn’t make you make any mistakes, become a great donor and remain busy in showing many others the path.
  2. In order to make your fortune elevated, use everything you have in a worthwhile way in the name of the Lord. Open a spiritual university.
Blessing: May you become tireless, like Father Brahma, and finish carelessness with strict discipline and determination.
In order to become tireless like Father Brahma, finish carelessness. For this, adopt a strict discipline for yourself. Have determination and keep your guards of attention constantly alert and carelessness will then finish. First of all, work on yourself, and then do service and the ground will then be transformed. Now, let go of the Dunlop pillow of thoughts of comfort, such as “I will do it, it will happen”. Keep the slogan “I have to do this” in your head and transformation then will take place.
Slogan: Powerful words are words in which there are soul-conscious feelings and good wishes.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 17 JULY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 17 July 2020

Murli Pdf for Print : – 

17-07-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम्हारी बुद्धि में अभी सारे ज्ञान का सार है, इसलिए तुम्हें चित्रों की भी दरकार नहीं, तुम बाप को याद करो और दूसरों को कराओ”
प्रश्नः- पिछाड़ी के समय तुम बच्चों की बुद्धि में कौन-सा ज्ञान रहेगा?
उत्तर:- उस समय बुद्धि में यही रहेगा कि अभी हम जाते हैं वापिस घर। फिर वहाँ से चक्र में आयेंगे। धीरे-धीरे सीढ़ी उतरेंगे फिर बाप आयेंगे चढ़ती कला में ले जाने। अभी तुम जानते हो पहले हम सूर्यवंशी थे फिर चन्द्रवंशी बनें…… इसमें चित्रों की दरकार नहीं।

ओम् शान्ति। बच्चे आत्म-अभिमानी होकर बैठे हो? 84 का चक्र बुद्धि में है अर्थात् अपने वैराइटी जन्मों का ज्ञान है। विराट रूप का भी चित्र है ना। इसका ज्ञान भी बच्चों में है कि कैसे हम 84 जन्म लेते हैं। मूलवतन से पहले-पहले देवी-देवता धर्म में आते हैं। यह ज्ञान बुद्धि में है, इसमें चित्र की कोई दरकार नहीं। हमको कोई चित्र आदि याद नहीं करना है। अन्त में याद सिर्फ यह रहेगा कि हम आत्मा हैं, मूलवतन की रहने वाली हैं, यहाँ हमारा पार्ट है। यह भूलना नहीं चाहिए। यह मनुष्य सृष्टि के चक्र की ही बातें हैं और बहुत सिम्पुल हैं। इसमें चित्रों की बिल्कुल दरकार नहीं क्योंकि यह चित्र आदि सब हैं भक्ति मार्ग की चीज़ें। ज्ञान मार्ग में तो है पढ़ाई। पढ़ाई में चित्रों की दरकार नहीं। इन चित्रों को सिर्फ करेक्ट किया गया है। जैसे वह कहते हैं गीता का भगवान कृष्ण है, हम कहते हैं शिव है। यह भी बुद्धि से समझने की बात है। बुद्धि में यह नॉलेज रहती है, हमने 84 का चक्र लगाया है। अब हमको पवित्र बनना है। पवित्र बन फिर नये सिर चक्र लगायेंगे। यह है सार जो बुद्धि में रखना है। जैसे बाप की बुद्धि में है वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी वा 84 जन्मों का चक्र कैसे फिरता है, वैसे तुम्हारी बुद्धि में है पहले हम सूर्यवंशी फिर चन्द्रवंशी बनते हैं। चित्रों की दरकार है नहीं। सिर्फ मनुष्यों को समझाने के लिए यह बनाये हैं। ज्ञान मार्ग में तो सिर्फ बाप कहते हैं – मनमनाभव। जैसे यह चतुर्भुज का चित्र है, रावण का चित्र है, यह सब समझाने के लिए दिखलाने पड़ते हैं। तुम्हारी बुद्धि में तो यथार्थ ज्ञान है। तुम बिना चित्र के भी समझा सकते हो। तुम्हारी बुद्धि में 84 का चक्र है। चित्रों द्वारा सिर्फ सहज करके समझाया जाता है, इनकी दरकार नहीं है। बुद्धि में है पहले हम सूर्यवंशी घराने के थे फिर चन्द्रवंशी घराने के बने। वहाँ बहुत सुख है, जिसको स्वर्ग कहा जाता है, यह चित्रों पर समझाते हैं। पिछाड़ी में तो बुद्धि में यह ज्ञान रहेगा। अभी हम जाते हैं, वापिस चक्र लगायेंगे। सीढ़ी पर समझाया जाता है, तो मनुष्यों को सहज हो जाए। तुम्हारी बुद्धि में यह भी सारा ज्ञान है कि कैसे हम सीढ़ी उतरते हैं। फिर बाप चढ़ती कला में ले जाते हैं। बाप कहते हैं मैं तुमको इन चित्रों का सार समझाता हूँ। जैसे गोला है तो उस पर समझा सकते हैं – यह 5 हज़ार वर्ष का चक्र है। अगर लाखों वर्ष होते तो संख्या कितनी बढ़ जाती। क्रिश्चियन का दिखाते हैं 2 हज़ार वर्ष। इसमें कितने मनुष्य होते हैं। 5 हज़ार वर्ष में कितने मनुष्य होते हैं। यह सारा हिसाब तुम बतलाते हो। सतयुग में पवित्र होने कारण थोड़े मनुष्य होते हैं। अभी तो कितने ढेर हैं। लाखों वर्ष की आयु होती तो संख्या भी अनगिनत हो जाए। क्रिश्चियन की भेंट में आदमशुमारी का हिसाब तो निकालते हैं ना। हिन्दुओं की आदमशुमारी कम दिखाते हैं। क्रिश्चियन बहुत बन गये हैं। जो अच्छे समझदार बच्चे हैं, बिगर चित्रों के भी समझा सकते हैं। विचार करो इस समय कितने ढेर मनुष्य हैं। नई दुनिया में कितने थोड़े मनुष्य होंगे। अभी तो पुरानी दुनिया है, जिसमें इतने मनुष्य हैं। फिर नई दुनिया कैसे स्थापन होती है। कौन स्थापन करते हैं, यह बाप ही समझाते हैं। वही ज्ञान का सागर है। तुम बच्चों को सिर्फ यह 84 का चक्र ही बुद्धि में रखना है। अभी हम नर्क से स्वर्ग में जाते हैं, तो अन्दर खुशी होगी ना। सतयुग में दु:ख की कोई बात होती नहीं। ऐसी कोई अप्राप्त वस्तु नहीं जिसकी प्राप्ति के लिए पुरूषार्थ करें। यहाँ पुरूषार्थ करना पड़ता है। यह मशीन चाहिए, यह चाहिए…….. वहाँ तो सब सुख मौजूद हैं। जैसे कोई महाराजा होता है तो उनके पास सब सुख मौजूद रहते हैं। गरीब के पास तो सब सुख मौजूद नहीं होते। परन्तु यह तो है कलियुग, तो बीमारियाँ आदि सब कुछ हैं। अभी तुम पुरूषार्थ करते हो नई दुनिया में जाने के लिए। स्वर्ग-नर्क यहाँ ही होता है।

यह सूक्ष्मवतन की जो रमत-गमत है, यह भी टाइम पास करने के लिए है। जब तक कर्मातीत अवस्था हो टाइम पास करने के लिए यह खेलपाल हैं। कर्मातीत अवस्था आ जायेगी, बस। तुमको यही याद रहेगा कि हम आत्मा ने अब 84 जन्म पूरे किये, अब हम जाते हैं घर। फिर आकर सतोप्रधान दुनिया में सतोप्रधान पार्ट बजायेंगे। यह ज्ञान बुद्धि में लिया हुआ है, इसमें चित्रों आदि की दरकार नहीं। जैसे बैरिस्टर कितना पढ़ते हैं, बैरिस्टर बन गये, बस जो पाठ पढ़े वह खलास। रिजल्ट निकली प्रालब्ध की। तुम भी पढ़कर फिर जाए राजाई करेंगे। वहाँ नॉलेज की दरकार नहीं। इन चित्रों में भी रांग-राइट क्या है, यह अभी तुम्हारी बुद्धि में हैं। बाप बैठ समझाते हैं, लक्ष्मी-नारायण कौन हैं? यह विष्णु क्या है? विष्णु के चित्र में मनुष्य मूँझ जाते हैं। बिगर समझ के पूजा भी जैसे फालतू हो जाती है, समझते कुछ भी नहीं। जैसे विष्णु को नहीं समझते हैं, लक्ष्मी-नारायण को भी नहीं समझते। ब्रह्मा-विष्णु-शंकर को भी नहीं समझते। ब्रह्मा तो यहाँ है, यह पवित्र बन शरीर छोड़ चले जायेंगे। इस पुरानी दुनिया से वैराग्य है। यहाँ का कर्मबन्धन दु:ख देने वाला है। अब बाप कहते हैं अपने घर चलो। वहाँ दु:ख का नाम-निशान नहीं होगा। पहले तुम अपने घर में थे फिर राजधानी में आये, अब बाप फिर आये हैं पावन बनाने। इस समय मनुष्यों का खान-पान आदि कितना गन्दा है। क्या-क्या चीजें खाते रहते हैं। वहाँ देवतायें ऐसी गन्दी चीजें थोड़ेही खाते हैं। भक्ति मार्ग देखो कैसा है, मनुष्य की भी बलि चढ़ती है। बाप कहते हैं – यह भी ड्रामा बना हुआ है। पुरानी दुनिया से फिर नई जरूर बननी है। अभी तुम जानते हो – हम सतोप्रधान बन रहे हैं। यह तो बुद्धि समझती है ना, इसमें तो चित्र न हो तो और ही अच्छा। नहीं तो मनुष्य बहुत ही प्रश्न पूछते हैं। बाप ने 84 जन्मों का चक्र समझाया है। हम ऐसे सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी, वैश्य वंशी बनते हैं, इतने जन्म लेते हैं। यह बुद्धि में रखना होता है। तुम बच्चे सूक्ष्मवतन का राज़ भी समझते हो, ध्यान में सूक्ष्मवतन में जाते हो, परन्तु इसमें न योग है, न ज्ञान है। यह सिर्फ एक रस्म है। समझाया जाता है, कैसे आत्मा को बुलाया जाता है फिर जब आती है तो रोते हैं, पश्चाताप् होता है, हमने बाबा का कहना नहीं माना। यह सब हैं बच्चों को समझाने के लिए कि पुरूषार्थ में लग पड़ें, ग़फलत न करें। बच्चे सदा यह अटेन्शन रखें कि हमें अपना टाइम सफल करना है, वेस्ट नहीं करना है तो माया ग़फलत नहीं करा सकती है। बाबा भी समझाते रहते हैं – बच्चे टाइम वेस्ट न करो। बहुतों को रास्ता बताने का पुरूषार्थ करो। महादानी बनो। बाप को याद करो तो विकर्म विनाश होंगे। जो भी आते हैं उनको यह समझाओ और 84 का चक्र बताओ। वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी कैसे रिपीट होती है, नटशेल में सारा चक्र बुद्धि में रहना चाहिए।

तुम बच्चों को खुशी रहनी चाहिए कि अभी हम इस गन्दी दुनिया से छूटते हैं। मनुष्य समझते हैं स्वर्ग-नर्क यहाँ ही है। जिनको बहुत धन है तो समझते हैं हम स्वर्ग में हैं। अच्छे कर्म किये हैं इसलिए सुख मिला है। अभी तुम बहुत अच्छे कर्म करते हो जो 21 जन्म के लिए तुम सुख पाते हो। वह तो एक जन्म लिए समझते हैं कि हम स्वर्ग में हैं। बाप कहते हैं वह है अल्पकाल का सुख, तुम्हारा है 21 जन्मों का। जिसके लिए बाप कहते हैं सभी को रास्ता बताते जाओ। बाप की याद से ही निरोगी बनेंगे और स्वर्ग के मालिक बन जायेंगे। स्वर्ग में है राजाई। उनको भी याद करो। राजाई थी, अभी नहीं है। भारत की ही बात है। बाकी तो है बाई-प्लाट्स। पिछाड़ी में सब चले जायेंगे फिर हम आयेंगे नई दुनिया में। अब इस समझाने में चित्रों की दरकार थोड़ेही है। यह सिर्फ समझाने के लिए मूलवतन, सूक्ष्मवतन दिखाते हैं। समझाया जाता है बाकी यह तो भक्ति मार्ग वालों ने चित्र आदि बनाये हैं। तो हमको भी फिर करेक्ट कर बनाने पड़ते हैं। नहीं तो कहेंगे तुम तो नास्तिक हो इसलिए करेक्ट कर बनाये हैं। ब्रह्मा द्वारा स्थापना, शंकर द्वारा विनाश…… वास्तव में यह भी ड्रामा में नूँध है। कोई कुछ करता थोड़ेही है। साइंसदान भी अपनी बुद्धि से यह सब बनाते हैं। भल कितना भी कोई कहे कि बाम्बस न बनाओ परन्तु जिनके पास ढेर हैं वह समुद्र में डालें तो फिर दूसरा कोई न बनाये। वह रखे हैं तो जरूर और भी बनायेंगे। अभी तुम बच्चे जानते हो सृष्टि का विनाश तो जरूर होना ही है। लड़ाई भी जरूर लगनी है। विनाश होता है, फिर तुम अपना राज्य लेते हो। अब बाप कहते हैं – बच्चे, सबका कल्याणकारी बनो।

बच्चों को अपनी ऊंच तकदीर बनाने के लिए बाप श्रीमत देते हैं – मीठे बच्चे, अपना सब कुछ धनी के नाम पर सफल कर लो। किनकी दबी रहेगी धूल में, किनकी राजा खाए……। धनी (बाप) खुद कहते हैं – बच्चे, इसमें खर्च करो, यह रूहानी हॉस्पिटल, युनिवर्सिटी खोलो तो बहुतों का कल्याण हो जायेगा। धनी के नाम तुम खर्चते हो जिसका फिर 21 जन्म के लिए तुमको रिटर्न में मिलता है। यह दुनिया ही खत्म होनी है इसलिए धनी के नाम जितना हो सके सफल करो। धनी शिवबाबा है ना। भक्ति मार्ग में भी धनी के नाम करते थे। अभी तो है डायरेक्ट। धनी के नाम बड़ी-बड़ी युनिवर्सिटी खोलते जाओ तो बहुतों का कल्याण हो जायेगा। 21 जन्म लिए राज्य-भाग्य पा लेंगे। नहीं तो यह धन-दौलत आदि सब खत्म हो जायेंगे। भक्ति मार्ग में खत्म नहीं होते हैं। अभी तो खत्म होना है। तुम खर्चो, फिर तुमको ही रिटर्न मिलेगा। धनी के नाम पर सबका कल्याण करो तो 21 जन्मों का वर्सा मिलेगा। कितना अच्छा समझाते हैं फिर जिनकी तकदीर में है वह खर्च करते रहते हैं। अपना घरबार भी सम्भालना है। इनका (बाबा का) पार्ट ही ऐसा था। एकदम ज़ोर से नशा चढ़ गया। बाबा बादशाही देते हैं फिर गदाई क्या करेंगे। तुम सब बादशाही लेने लिए बैठे हो तो फालो करो ना। जानते हो इसने कैसे सब छोड़ दिया। नशा चढ़ गया, ओहो! राजाई मिलती है, अल्फ को अल्लाह मिला तो बे (भागीदार) को भी राजाई दे दी। राजाई थी, कम नहीं था। अच्छा फरटाइल धन्धा था। अब तुमको यह राजाई मिल रही है, तो बहुतों का कल्याण करो। पहले भट्ठी बनी फिर कोई पक कर तैयार हुए, कोई कच्चे रह गये। गवर्मेन्ट नोट बनाती है फिर ठीक नहीं बनते हैं तो गवर्मेन्ट को जला देने पड़ते हैं। आगे तो चांदी के रूपये चलते थे। सोना और चांदी बहुत था। अभी तो क्या हो रहा है। कोई की राजा खा जाते, कोई की डाकू खा जाते, डाके भी देखो कितने लगते हैं। फैमन भी होगा। यह है ही रावण राज्य। राम राज्य सतयुग को कहा जाता है। बाप कहते हैं तुमको इतना ऊंच बनाया फिर कंगाल कैसे बनें! अब तुम बच्चों को इतनी नॉलेज मिली है तो खुशी होनी चाहिए। दिन-प्रतिदिन खुशी बढ़ती जायेगी। जितना यात्रा पर नजदीक होगे उतनी खुशी होगी। तुम जानते हो शान्तिधाम-सुखधाम सामने खड़ा है। वैकुण्ठ के झाड़ दिखाई पड़ रहे हैं। बस, अब पहुँचे कि पहुँचे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपना टाइम सफल करने का अटेन्शन रखना है। माया ग़फलत न करा सके – इसके लिए महादानी बन बहुतों को रास्ता बताने में बिजी रहना है।

2) अपनी ऊंची तकदीर बनाने के लिए धनी के नाम पर सब कुछ सफल करना है। रूहानी युनिवर्सिटी खोलनी है।

वरदान:- कड़े नियम और दृढ़ संकल्प द्वारा अलबेलेपन को समाप्त करने वाले ब्रह्मा बाप समान अथक भव
ब्रह्मा बाप समान अथक बनने के लिए अलबेलेपन को समाप्त करो। इसके लिए कोई कड़ा नियम बनाओ। दृढ़ संकल्प करो, अटेन्शन रूपी चौकीदार सदा अलर्ट रहें तो अलबेलापन समाप्त हो जायेगा। पहले स्व के ऊपर मेहनत करो फिर सेवा में, तब धरनी परिवर्तन होगी। अभी सिर्फ ठकर लेंगे, हो जायेगा” इस आराम के संकल्पों के डंलप को छोड़ो। करना ही है, यह स्लोगन मस्तक में याद रहे तो परिवर्तन हो जायेगा।
स्लोगन:- समर्थ बोल की निशानी है – जिस बोल में आत्मिक भाव और शुभ भावना हो।

TODAY MURLI 17 JULY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 17 July 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 16 July 2019:- Click Here

17/07/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you must not waste your time. Continue to churn knowledge internally and you will become a conqueror of sleep and not yawn etc.
Question: Why have you children sacrificed yourselves to the Father? What is the meaning of “sacrificing yourself”?
Answer: To sacrifice yourself means to become merged in remembrance of the Father. When you are merged in remembrance, you the soul, the battery,becomes chargedWhen the soul, the battery, is connected to the incorporeal Father, the battery is being charged and your sins are also being absolved. You will accumulate an income for yourself.

Om shanti. The spiritual Father sits here and explains to you spiritual children. You are now sitting here with your bodies. You understand that those are your final bodies in the land of death. What will happen after that? You will be together with the Father in the land of peace; those bodies will not remain. Then, you will go down into heaven, numberwise, according to the effort you make; you will not all come down together. That kingdom is being established. Just as the Father is the Ocean of Peace and the Ocean of Happiness, so He is making you children into oceans of peace and happiness. Later, you will go and reside in the land of peace. Therefore, you have to remember the Father, the home and the land of happiness. The more you sit here in this stage, the more your sins of innumerable births will be burnt away. This is called the fire of yoga. Sannyasis do not have yoga with the Almighty Authority. They have yoga with the brahm element, the place of residence. They are yogis who have yoga with the brahm element, that is, they have yoga with the element. Here, it is a play of embodied souls whereas only souls reside there in the sweet home. The whole world is making effort to go to that sweet home. Sannyasis also say that they want to merge into the element of light. They do not say that they want to go and reside in the element of light. You children now understand this. On the path of devotion, people continue to listen to many conflicting ideas. The Father comes here and explains two words, just as you would chant a mantra. Some remember their guru, others remember someone else. Students remember their teacher. You children simply have to remember the Father and the home. You claim your inheritance of the land of peace and the land of happiness from the Father. This is what you remember in your heart. You do not have to say anything with your mouth. Your intellects understand that, after going to the land of peace, you will go to the land of happiness. We will first go into liberation and then into liberation-in-life. Only the one Father is the Bestower of liberation and liberation-in-life. The Father repeatedly explains to you children: You must not waste your time. There is a burden of sins of innumerable births on your heads. You are aware of the sins of this birth. These things do not exist in the golden age. You children here understand that you have a burden of sins of innumerable births. The number one sin is the vice of lust which you have been committing for many births. You have also defamed the Father a great deal. The Father, the One who grants salvation to all, has been defamed so much. You have to keep all of these aspects in your minds. Now, to whatever extent possible, make effort to remember the Father. In fact, you should say that it is the wonder of the Satguru, not just the Guru. To say “The wonder of the Guru (Wah Guru)” has no meaning. It should be, “The wonder of the Satguru.” He is the One who grants liberation and liberation-in-life. There are many different gurus whereas only that One is the Satguru. You people adopted many gurus. In every birth, people adopt two to four gurus. People adopt a guru and then go to other places in the hope of finding a better path somewhere else. They continue to have trials with other gurus, but they do not attain anything. You children now know that you are not going to remain here; everyone has to go to the land of peace. The Father has come on your invitation. He reminds you that you called out to Him: Come and make us pure from impure! The land of peace and the land of happiness are both pure. You called out: Take us home! Everyone remembers their home. The soul instantly says: My place of residence is the supreme region. The Supreme Father, the Supreme Soul, resides in the supreme region. You too reside in the supreme region. The Father has explained that there are now the omens of Jupiter over you. This is an unlimited aspect. There are unlimited omens over everyone. The cycle continues to turn. We are the ones who go from happiness to sorrow and then from sorrow to happiness. There is the land of peace, the land of happiness and this is the land of sorrow. You children now understand this; it does not sit in the intellects of human beings. The Father now teaches you to die a living death. Moths sacrifice themselves to the Flame. Some fall in love, burn and sacrifice themselves whereas others circle around and go away again. This one is also like a battery. Everyone’s yoga of the intellect is with that One. It is as though one’s battery is connected to the incorporeal Father. This soul is very close and so it is easy for him. Your batteries continue to be charged by remembering the Father. You children experience a little difficulty whereas it is easy for this one. However, this one still has to make as much effort as you children. To the extent that this one is close, so he also has that much responsibility. It has been said that someone who has responsibility on his head does not sleep comfortably at night. This one has many responsibilities. That Father is complete; this one has to become complete. This one has to look after everyone very well. Although both are together, there is still concern. Daughters are being beaten a great deal, and so it is as though there is an experience of sorrow. The karmateet stage will be reached at the end; until then, there is concern. When children don’t write a letter, there is the concern that they are perhaps ill. When the Father receives service news, He would definitely remember them. Baba is doing service through this body. Sometimes the murli is short. Even if you don’t receive a murli for two to four days, you have many points. You should read your diaries. You can also explain very well with the badge. When the original, eternal, deity religion was in existence, there were no other religions. You should also have the picture of the tree with you. You have to explain the significance of the variety of religions. To begin with, when there was the one undivided religion, there was peace, happiness and purity in the world. You receive this inheritance from the Father because the Father is the Ocean of Peace and the Ocean of Happiness. Previously, you too did not know anything. Now, just as the Father has all of this knowledge in His intellect, so you are also becoming the same. You are also becoming oceans of peace and happiness. You have to check your chart and see in which respect you have a defect: Am I truly an ocean of love? Is my behaviour such that it upsets others? You have to pay attention to yourself. You should not think that Baba will give you blessings to become that; no. The Father says: I have come, according to the drama, at My own time. This is My programme of every cycle. No one else can give this knowledge. There is only one true Father, true Teacher and Satguru. If you have this firm faith, you will become victorious. All the different religions that exist now will be destroyed. When the golden-aged, sun-dynasty kingdom existed, there was no other dynasty. The same will happen again. Continue to converse with yourself in this way throughout the whole day. Points of knowledge should trickle inside you. You should be happy. The knowledge that the Father has is now being given to you. You have to imbibe this knowledge. You must not waste time in that. You also have time at night. It is seen that souls become tired from working through their organs and so they go to sleep. The Father removes all your tiredness of the path of devotion and makes you tireless. When souls get tired at night, they become separate from their bodies; that is called sleep. Who is it that sleeps? The sense organs also go to sleep with the soul. Therefore, at night, before going to sleep, remember the Father and then go to sleep with these thoughts. It is possible that, at the end, you will become conquerors of sleep during the day and the night. You will then stay in remembrance and experience a great deal of happiness. You will continue to turn the cycle of 84 births. You will not yawn or feel drowsy etc. Hey children, conquerors of sleep, never sleep whilst earning an income! When you become intoxicated with knowledge, you will be able to maintain that stage. When you sit here for a short time you must not yawn or become drowsy. You yawn when your attention is drawn in other directions. You children should also keep in mind that you have to make others similar to yourselves. Subjects are needed, otherwise, how would you become a king? You never run out of wealth when you donate it. If you explain to others and continue to donate wealth, you can never run out of wealth. Otherwise, you will not be able to accumulate any. Human beings are very miserly. They fight and quarrel a great deal for the sake of wealth. Here, the Father says: Continue to give others the imperishable wealth that I give you. Do not become miserly in this. If you do not donate it, it means you don’t have it. This income is such that there is no question of fighting or quarrelling over it. This is called incognito donations. You are incognito warriors. Your battle is with the five vices. You are called unknown warriors. An infantry army is huge. It is the same here; there are many subjects and also captains and majors etc. You too are an army and you are also all numberwise within it. Baba understands which ones are commanders and which ones are majors. There are the maharathis and the cavalry. The Father knows that there are three types of those who explain. You do the business of the imperishable jewels of knowledge. Those people also teach business. When a guru leaves his body, his disciples and followers continue the task. That is physical whereas here it is subtle. There are many varieties of religion. They all have their own opinions. You too can go and listen to what they say, what they teach and what they speak about. The Father explains to you the story of the cycle of 84 births. The Father comes and gives you children your inheritance. This is fixed in the drama. Even now, at the end of the iron age, souls continue to come. Expansion continues to take place. For as long as the Father is here, the population will continue to increase. Later, where will all those souls live and where will they eat? This too has to be taken into consideration. There, there are not as many human beings. There are very few to feed. All of them have their own fields. What would be the point of hoarding grain? There, there is no need to have sacrificial fires etc. for rain as they do here. The Father has now created this sacrificial fire. The entire old world is to be sacrificed into this sacrificial fire. This is an unlimited sacrificial fire. Those people create limited sacrificial fires for rain. If there is rainfall, they become very happy and think that their sacrificial fire has been successful. If there is no rainfall, there is no grain and so there is famine. They might create sacrificial fires etc., but if there is no rainfall, what can they do? All the calamities are going to take place. There will be torrential rain, earthquakes;everything will happen. You children have understood the cycle of the drama. The picture of this cycle should be very large. If an advertisement is placed in prominent places, eminent people would read it. They would understand that this is surely the most auspicious confluence age. There are many human beings in the iron age whereas there are few human beings in the golden age. So that means that all the rest will be destroyed. The birth of Shiva means the birth of heaven, the birth of Lakshmi and Narayan. This is an easy thing. The birth of Shiva is celebrated. He is the unlimited Father. He is the One who establishes heaven. It is a matter of yesterday when you were the residents of heaven. This is a very easy thing to understand. You children have to understand this very clearly and explain to others. You also have to remain happy. We are now becoming free from illness for all time and becoming 100% healthy and wealthy. Very little time remains. No matter how much sorrow and death etc. there is to be, you will remain very happy at that time. You know that death has to come. This is a play of every cycle. There is nothing to worry about in this. Those who are very strong will not cry out in distress. When people see someone having an operation, they faint. Many deaths are now going to take place. You children understand that all of that is to happen. It is said: There is sorrow for the prey at the time of death and happiness for the hunter. You have received a great deal of sorrow in this old world. You now have to go to the new world. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Take the imperishable wealth of knowledge from the Father and donate it to others. Do not be miserly in donating knowledge. Let points of knowledge trickle inside you. In order to become a king, you definitely have to create subjects.
  2. You have to check your chart: 1) Have I become an ocean of love like the Father? 2) Do I ever upset anyone? 3) Do I pay full attention to my behaviour?
Blessing: May you be a true and firm server and serve with your drishti, attitude and actions at every moment.
Servers are those who serve at every moment with their elevated drishti, attitude and actions. Whenever you look at anyone with elevated drishti, that drishti also does service. The atmosphere is created through your attitude. When you carry out a task while staying in remembrance, the atmosphere is purified. The breath of Brahmin life is service. Just as when you are unable to breathe, you become unconscious, in the same way, when a Brahmin soul is not busy in service, he becomes unconscious. Therefore, to the extent that you are loving, you should accordingly, be co-operative and a server to the same extent.
Slogan: Consider service to be a game and you won’t get tired and will always remain light.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 17 JULY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 17 July 2019

To Read Murli 16 July 2019 :- Click Here
17-07-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हें अपना टाइम वेस्ट नहीं करना है, अन्दर में नॉलेज का सिमरण करते रहो तो निद्राजीत बन जायेंगे, उबासी आदि नहीं आयेगीˮ
प्रश्नः- तुम बच्चे बाप पर फिदा क्यों हुए हो? फिदा होने का अर्थ क्या है?
उत्तर:- फिदा होना अर्थात् बाप की याद में समा जाना। जब याद में समा जाते हो तो आत्मा रूपी बैटरी चार्ज हो जाती है। आत्मा रूपी बैटरी निराकार बाप से जुटती है, तो बैटरी चार्ज हो जाती है, विकर्म विनाश हो जाते हैं। कमाई जमा हो जाती है।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप बैठ रूहानी बच्चों को समझाते हैं, अब यहाँ तुम शरीर के साथ बैठे हो। जानते हो मृत्युलोक में यह अन्तिम शरीर है। फिर क्या होगा? फिर बाप के साथ शान्तिधाम में इकट्ठे होंगे। यह शरीर नहीं होगा फिर स्वर्ग में आयेंगे तो नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार, सब तो इकट्ठे नहीं आयेंगे। यह राजधानी स्थापन हो रही है। जैसे बाप शान्ति का, सुख का सागर है, बच्चों को भी ऐसा शान्ति का, सुख का सागर बना रहे हैं फिर जाकर शान्तिधाम में विराजमान होना है। तो बाप को, घर को और सुखधाम को याद करना है। यहाँ तुम जितना-जितना इस अवस्था में बैठते हो, तुम्हारे जन्म-जन्मान्तर के पाप भस्म होते हैं, इसको कहा जाता है योगाग्नि। सन्यासी कोई सर्वशक्तिमान् से योग नहीं लगाते। वह तो रहने के स्थान ब्रह्म से योग लगाते हैं। वह हैं तत्व योगी, ब्रह्म अथवा तत्व से योग लगाने वाले। यहाँ जीव आत्माओं का खेल होता है, वहाँ स्वीट होम में सिर्फ आत्मायें रहती हैं। उस स्वीट होम में जाने के लिए सारी दुनिया पुरूषार्थ करती है। सन्यासी भी कहते हैं हम ब्रह्म में लीन हो जायें। ऐसा नहीं कहते हम ब्रह्म में जाकर निवास करें। यह तो तुम बच्चे अब समझ गये हो। भक्ति मार्ग में कितनी खिट-खिट सुनते रहते हैं। यहाँ तो बाप आकर सिर्फ दो अक्षर ही समझाते हैं। जैसे मंत्र जपते हैं ना। कोई गुरू को याद करते हैं, कोई किसको याद करते हैं। स्टूडेण्ट टीचर को याद करते हैं। अभी तुम बच्चों को सिर्फ बाप और घर ही याद है। बाप से तुम वर्सा लेते हो शान्तिधाम और सुखधाम का। वही दिल में याद रहता है। मुख से कुछ बोलना नहीं है। बुद्धि से तुम जानते हो शान्तिधाम के बाद है सुखधाम। हम पहले मुक्ति में फिर जीवन-मुक्ति में जायेंगे। मुक्ति-जीवनमुक्ति दाता एक ही बाप है। बाप बच्चों को बार-बार समझाते हैं – टाइम वेस्ट नहीं करना चाहिए। जन्म-जन्मान्तर के पापों का बोझा सिर पर है। इस जन्म के पापों आदि की तो स्मृति रहती है। सतयुग में यह बातें होती नहीं। यहाँ बच्चे जानते हैं जन्म-जन्मान्तर के पापों का बोझा है। नम्बरवन है काम विकार का विकर्म, जो जन्म-जन्मान्तर करते आये हो और बाप की निंदा भी बहुत की है। बाप जो सर्व को सद्गति देते, उनकी कितनी निंदा की है। यह सब ध्यान में रखना है। अब जितना हो सके बाप को याद करने का पुरूषार्थ करना है। वास्तव में वाह सतगुरू कहा जाता है, गुरू भी नहीं। वाह गुरू का कोई अर्थ नहीं। वाह सतगुरू! मुक्ति-जीवनमुक्ति वही देते हैं ना। वह गुरू तो अनेक हैं। यह है एक सतगुरू। तुम लोगों ने गुरू तो बहुत किये हैं। हर जन्म में 2-4 गुरू करते हैं। गुरू करके फिर और-और स्थान पर जाते हैं। शायद यहाँ से अच्छा रास्ता मिल जाए, ट्रायल करते रहते हैं और और गुरूओं से। परन्तु मिलता कुछ भी नहीं। अभी तुम बच्चे जानते हो यहाँ तो रहना नहीं है। सबको जाना है शान्तिधाम। बाप तुम्हारे निमंत्रण पर आये हैं। तुमको याद दिलाते हैं, तुमने हमको कहा है कि आओ, हमको पतित से पावन बनाओ। पावन शान्तिधाम भी है, सुखधाम भी है। बुलाते हैं हमको घर ले जाओ। घर सबको याद है। आत्मा फट से कहेगी हमारा निवास स्थान परमधाम है। परमपिता परमात्मा भी परमधाम में रहते हैं। हम भी परमधाम में रहते हैं।

अब बाप ने समझाया है तुम पर ब्रहस्पति की दशा बैठी हुई है। यह है बेहद की बात। बेहद की दशा सब पर बैठी है। चक्र फिरता रहता है। हम ही सुख से दु:ख में, फिर दु:ख से सुख में आते हैं। शान्तिधाम, सुखधाम फिर यह दु:खधाम। यह भी अब तुम बच्चे समझते हो, मनुष्यों की तो बुद्धि में नहीं बैठता। अभी बाप जीते जी मरना सिखला रहे हैं। परवाने शमा पर फिदा हो जाते हैं। कोई उस पर आशिक हो जल जाते हैं, फिदा हो जाते हैं, कोई फिर फेरी पहन चले जाते हैं। यह भी बैटरी है ना, सबका बुद्धियोग उस एक से है। निराकार बाप से जैसे बैटरी लगी हुई है। इस आत्मा के तो बहुत नज़दीक है तो बहुत सहज होता है। बाप को याद करने से तुम्हारी बैटरी चार्ज होती जाती है। तुम बच्चों को थोड़ी मुश्किलात होती है, इनको सहज है। फिर भी इनको पुरूषार्थ तो करना पड़ता है, जितना तुम बच्चों को करना पड़ता है। यह जितना नज़दीक हैं, उतना फिर बोझा है बहुत। गायन भी है जिनके माथे मामला…… इनके ऊपर तो बहुत मामले हैं ना। बाप तो है ही सम्पूर्ण, इनको सम्पूर्ण बनना है, इनको सबकी देख-रेख बहुत करनी पड़ती है। भल दोनों इकट्ठे हैं तो भी ख्याल तो होता है ना। बच्चियों पर कितनी मार पड़ती है तो जैसे कि दु:ख होता है। कर्मातीत अवस्था तो पिछाड़ी में होगी, तब तक ख्याल होता है। बच्चियों की चिट्ठी नहीं आती है तो भी ख्याल होता है – बीमार तो नहीं है? सर्विस का समाचार आने से बाप जरूर उनको याद करेंगे। बाबा इस तन से सर्विस करते हैं। कभी मुरली थोड़ी चलती है, यूँ तो भल 2-4 रोज़ मुरली न भी आये, तुम्हारे पास प्वाइंट्स रहती हैं। तुमको भी अपनी डायरी देखनी चाहिए। बैज़ पर भी तुम अच्छा समझा सकते हो। जब आदि सनातन देवी-देवता धर्म था तो और कोई धर्म नहीं था। झाड़ भी जरूर साथ में होना चाहिए। वैराइटी धर्मों का राज़ समझाना होता है। पहले-पहले एक अद्वेत धर्म था। विश्व में शान्ति, सुख, पवित्रता थी। बाप से ही वर्सा मिलता है क्योंकि बाप शान्ति का सागर, सुख का सागर है ना। आगे तुम भी कुछ नहीं जानते थे। अब जैसे बाप की बुद्धि में यह सब है, ऐसे तुम भी बनते हो। सुख का, शान्ति का सागर तुम भी बनते हो। अपना पोतामेल देखना है – किस बात में कमी है? मैं बरोबर प्रेम का सागर हूँ, कोई ऐसी चलन तो नहीं है जिससे कोई नाराज़ होता हो? अपने ऊपर नज़र रखनी है। ऐसे नहीं समझना है कि बाबा आशीर्वाद करेंगे तो तुम यह बन जायेंगे। नहीं। बाप कहते हैं मैं ड्रामा अनुसार अपने समय पर आया हूँ। मेरा यह कल्प-कल्प का प्रोग्राम है। यह ज्ञान दूसरा कोई दे न सके। सत बाप, सत टीचर, सतगुरू एक ही है। यह भी पक्का निश्चय है तो तुम्हारी विजय है। इतने अनेक धर्म जो हैं, उन सबका विनाश होना ही है। जब सतयुगी सूर्यवंशी घराना था तो और दूसरा कोई घराना नहीं था फिर भी ऐसे ही होगा। सारा दिन ऐसे-ऐसे अपने से बातें करते रहो। ज्ञान की प्वाइंट्स अन्दर टपकनी चाहिए, खुशी रहनी चाहिए। बाप में नॉलेज है, वह तुमको अब मिल रही है। उसको धारण करना है, इसमें टाइम वेस्ट नहीं करना चाहिए। रात को भी टाइम मिलता है। देखते हैं आत्मा आरगन्स से काम करते-करते थक गई है तो फिर सो जाती है। बाप तुम्हारी भक्ति मार्ग की सब थक दूर कर अथक बना देते हैं। जैसे रात को आत्मा थक जाती है तो शरीर से अलग हो जाती है, जिसको नींद कहा जाता है। सोता कौन है? आत्मा के साथ कर्मेन्द्रियाँ भी सो जाती हैं। तो रात को सोते समय भी बाप को याद कर ऐसे-ऐसे ख्यालात करते सो जाना चाहिए। हो सकता है पिछाड़ी में रात-दिन तुम नींद को जीतने वाले बन जाओ। फिर याद में ही रहेंगे, बहुत खुशी रहेगी। 84 के चक्र को फिराते रहेंगे। उबासी वा पिनकी (झुटका) आदि नहीं आयेगी। हे नींद को जीतने वाले बच्चों, कमाई में कभी भी नींद नहीं करना है। जब ज्ञान में मस्त हो जायेंगे तब तुम्हारी अवस्था वह रहेगी। यहाँ तुम थोड़ा टाइम बैठते हो तो कभी उबासी या झुटका नहीं आना चाहिए। और और तरफ अटेन्शन जाने से फिर उबासी आयेगी।

तुम बच्चों को यह भी ध्यान में रखना है कि हमको औरों को भी आप समान बनाना है। प्रजा तो चाहिए ना। नहीं तो राजा कैसे बनेंगे। धन दिये धन ना खुटे….. दूसरे को समझायेंगे, दान देते रहेंगे तो कभी खुटेगा नहीं। नहीं तो जमा नहीं होगा। मनुष्य तो बहुत मनहूस भी होते हैं। धन पर बहुत लड़ाई-झगड़े हो पड़ते हैं। यहाँ बाप कहते हैं तुमको हम यह अविनाशी धन देता हूँ तो तुम फिर औरों को देते रहो। इसमें मनहूस नहीं बनना है। दान नहीं देते हैं तो गोया है नहीं। यह कमाई ऐसी है, इसमें लड़ाई आदि की बात नहीं, इसको कहा जाता है गुप्त। तुम हो इनकागनीटो वारियर्स। 5 विकारों के साथ तुम लड़ते हो। तुमको अननोन वारियर्स कहा जाता है। प्यादों का लश्कर बहुत होता है। यहाँ भी ऐसे हैं, प्रजा बहुत है, बाकी कैप्टन, मेज़र आदि सब हैं। तुम सेना हो, उसमें भी नम्बरवार हैं। बाबा समझेंगे यह कमान्डर है, यह मेज़र है। महारथी, घोड़ेसवार हैं ना। यह तो बाप जानते हैं तीन प्रकार के समझाने वाले हैं। तुम व्यापार करते हो अविनाशी ज्ञान रत्नों का। जैसे वह भी व्यापार सिखलाते हैं, गुरू चला जाता है तो उसके पिछाड़ी चेले चलाते हैं ना। वह है स्थूल, यह फिर है सूक्ष्म। अनेक प्रकार के धर्म हैं। हर एक की अपनी-अपनी मत है। तुम भी जाकर उन्हों का सुन सकते हो – वह लोग क्या सिखलाते हैं, क्या-क्या सुनाते हैं। बाप तो तुम्हें 84 के चक्र की कहानी समझाते हैं। तुम बच्चों को ही बाप आकर वर्सा देते हैं, यह ड्रामा में नूँध है। अभी कलियुग अन्त तक यह आत्मायें आती रहती हैं, वृद्धि को पाती रहती हैं। जब तक बाप यहाँ है, संख्या बढ़ती ही जाती है फिर इतने सब रहेंगे कहाँ, खायेंगे कहाँ? सब हिसाब रखना पड़ता है ना। वहाँ तो इतने मनुष्य होते नहीं। खाने वाले ही थोड़े, सबकी अपनी खेती रहती है। अनाज रखकर क्या करेंगे। वहाँ बरसात आदि के लिए यज्ञ आदि नहीं करने पड़ते, जैसे यहाँ करते हैं। अभी बाप ने यज्ञ रचा है। सारी पुरानी सृष्टि यज्ञ में स्वाहा होनी है। यह है बेहद का यज्ञ। वह लोग हद के यज्ञ रचते हैं बरसात के लिए। बरसात पड़ी तो खुशी हो गई, यज्ञ की सफलता हुई। नहीं होने से अनाज नहीं होगा, अकाल पड़ जाता। भल यज्ञ आदि रचते हैं परन्तु बारिश को नहीं पड़ना है तो क्या कर सकते हैं। आ़फतें तो सब आनी हैं। मूसलधार बरसात, अर्थ क्वेक यह सब होना है। ड्रामा के चक्र को तो तुम बच्चों ने समझा है। यह चक्र भी बहुत बड़ा होना चाहिए। एडवरटाइज़ बड़े-बड़े स्थानों में लगी हुई होगी तो बड़े-बड़े लोग पढ़ेंगे। समझ जायेंगे कि अब बरोबर पुरूषोत्तम संगमयुग है। कलियुग में बहुत मनुष्य हैं। सतयुग में थोड़े मनुष्य होते हैं। तो बाकी सब इतने जरूर खत्म हो जायेंगे। शिव जयन्ती माना ही स्वर्ग जयन्ती, लक्ष्मी-नारायण जयन्ती। बात तो बड़ी सहज है। शिव जयन्ती मनाई जाती है। वह है बेहद का बाप, उसने ही स्वर्ग की स्थापना की थी। कल की बात है, तुम स्वर्गवासी थे। यह तो बहुत सहज बात है। बच्चों को अच्छी रीति समझकर और समझाना है। खुशी में भी रहना है। अभी हम सदैव के लिए बीमारियों से छूट कर 100 परसेन्ट हेल्दी, वेल्दी बनते हैं। बाकी थोड़ा समय है। भल कितने भी दु:ख, मौत आदि होंगे, तुम उस समय बहुत खुशी में होंगे। तुम जानते हो मौत तो होना ही है। कल्प-कल्प का यह खेल है। फिकरात कोई नहीं होती। जो पक्के हैं वह कभी हाय-हाय नहीं करेंगे। मनुष्य कोई का ऑपरेशन आदि देखते हैं तो चक्कर आ जाता है। अभी तो कितना बड़ा मौत होगा। तुम बच्चे समझते हो यह सब तो होना ही है। गायन भी है मिरूआ मौत मलू का शिकार…. इस पुरानी दुनिया में तो बहुत दु:ख उठाया है, अब नई दुनिया में जाना है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप से अविनाशी ज्ञान धन लेकर दूसरों को दान करना है। ज्ञान दान करने में मनहूस नहीं बनना है। ज्ञान की प्वाइंट्स अन्दर टपकती रहें। राजा बनने के लिए प्रजा जरूर बनानी है।

2) अपना पोतामेल देखना है – (क) मैं बाप समान प्रेम का सागर बना हूँ?

(ख) कभी किसी को नाराज़ तो नहीं करता हूँ? (ग) अपनी चलन पर पूरी नज़र है?

वरदान:- हर समय अपनी दृष्टि, वृत्ति, कृति द्वारा सेवा करने वाले पक्के सेवाधारी भव
सेवाधारी अर्थात् हर समय श्रेष्ठ दृष्टि से, वृत्ति से, कृति से सेवा करने वाले, जिसको भी श्रेष्ठ दृष्टि से देखते हो तो वह दृष्टि भी सेवा करती है। वृत्ति से वायुमण्डल बनता है। कोई भी कार्य याद में रहकर करते हो तो वायुमण्डल शुद्ध बनता है। ब्राह्मण जीवन का श्वांस ही सेवा है, जैसे श्वांस न चलने से मूर्छित हो जाते हैं ऐसे ब्राह्मण आत्मा सेवा में बिजी नहीं तो मूर्छित हो जाती है इसलिए जितना स्नेही, उतना सहयोगी, उतना ही सेवाधारी बनो।
स्लोगन:- सेवा को खेल समझो तो थकेंगे नहीं, सदा लाइट रहेंगे।

TODAY MURLI 17 JULY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 17 July 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 16 July 2018 :- Click Here

17/07/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, in order to become pure, stay in your original religion, become bodiless and remember the one Father.
Question: With what method can you colour new students with the colour of knowledge?
Answer: First of all make them sit in a bhatti (furnace) for seven days. It is the custom, when anyone comes, to make them fill in a form. Only when they first stay in a bhatti for seven days can they be coloured fully. You buzzing moths buzz knowledge and make them the same as yourselves. You know that the sapling of the deity religion is now being planted. Those who are the souls of this clan will become engaged in the effort of changing from being greatly diseased to becoming free from disease.
Song: The Flame has ignited in the gathering for the moths…

Om shanti. The meaning of ‘Om shanti’ has been explained to you children. ‘Om’ means I am. Who am I? I am a soul, and my body, the physical organs. The original religion of a soul is silence. Whose child is a soul? It would be said: A soul is a child of the Supreme Father, the Supreme Soul. He too is silence. Souls reside in the silence world, the land of peace. Then, in order to play their part s, they enter the talkie world. The unlimited Father now says: O children, stay in your original religion. Sit in a bodiless stage. Remember the Father. That Father is also called the Flame. This is the gathering of impure human beings. At this time, the world is impure. All human beings are impure. It has been explained that Bharat was pure in the golden age. It was then the pure household religion and called the land of happiness. Bharat was pure and is now impure; it is the land of sorrow. This cycle continues to turn. This is now the beneficial confluence age when the Father has to come into the impure human world in order to make it pure. Only the Father, who is called the Supreme Father, the Supreme Soul, the Creator, makes the old world into a new world. The God of all devotees is One. The Father says: I too have to enter the impure world and an impure body. I only come once from the supreme abode to make Bharat into the pure deity kingdom. No one knows the history and geography of this worldbecause all are atheists. Not a single human being is a theist. Because of not knowing the Father, they have become orphans. They continue to fight and quarrel among themselves. So much peacelessness exists in every home. At the beginning of the golden age, there was the one Almighty Authority deity kingdom. It was the land of happiness. No one knows how that became the land of sorrow. Knowledge is the day of Brahma and devotion is the night of Brahma. Sannyasis speak of knowledge, devotion and disinterest. They leave their homes and families and go away into the forests. They have disinterest. Their renunciation is rajoguni whereas this renunciation is satopradhan. In this world of sinful souls, there isn’t a single charitable soul. So, this whole play is based on Bharat. Bharat was the Golden Sparrow. There used to be plenty of gold and diamonds in Bharat. Golden palaces were built and they were studded with diamonds and jewels. Bharat has now become like a shell. Only the Father makes it like diamonds. You know that you are changing from human beings into deities. That Father has now come into the gathering of impure ones. People believe that the Ganges is the Purifier and so they go there to bathe in that. In spite of that, no one has become a charitable soul from a sinful soul. They still continue to go to bathe there year after year. At this time, no one is pure. No one can become pure until the Father who purifies everyone comes. The God of the Gita makes you pure. That God is the one Father of all souls. It isn’t that all devotees are God or that God is omnipresent. That is defamation of God and this is why it is said: I come whenever there is extreme irreligiousness. This is sung about Bharat. People defame the Father so much, the One who comes and makes Bharat like a diamond. Rishis and munis have been saying: “The Creator and His creation are infinite”, that is, “neither this nor that” (neti, neti); “we do not know”, whereas people today have been saying that God is omnipresent. The Father says: When they become like that, I come and change sinful souls into charitable souls, into deities. The Bestower of Salvation for All is One. He Himself comes and makes the impure ones pure and makes them worthy. He gives you children the inheritance. You have been receiving temporary inheritances from your physical fathers. The unlimited Father says: I give you the inheritance of purity, peace and happiness for 21 births. No physical father can give you this. He is the Father, Teacher and also the Ocean of Knowledge. The praise of the Father is very elevated. He is the Seed of the human world tree. This is the tree of the variety of religions of the human world. The original, eternal, deity religion is the religion of the golden age. Then other religions emerge from that. You now belong to the Brahmin religion. Prior to that, you belonged to the shudra religion. Now, from Brahmins, you will become deities and then warriors. You have to go around the cycle of 84 births. You are the first ones to come into the golden age. It is sung: Souls remained separated from the Supreme Soul for a long time. You also heard in the song: We went around in all four directions and yet always remained distant, that is, we couldn’t meet the Father. It is now the kingdom of Ravan. The kingdom of Rama is the deity kingdom. People believe that both heaven and hell are here now. However, that is not possible. When someone dies, people say that he has become a resident of heaven. Therefore, he was surely in hell. So he also has to take rebirth in hell. People have so many different ideas: one cannot be the same as another. There are so many conflicting ideas. For half the cycle, there are the divine directions in Bharat. Now, there are devilish directions. The people of Bharat should know that Father from beyond, that is, the God whom they remember. Bharat is now like a shell. It has to be made like a diamond. Gandhiji and Nehru wanted there to be the World Almighty Authority kingdom of Rama in Bharat. They believed that it was like that at some point in Bharat. It doesn’t exist now. This is why they tried to bring about the Kingdom of Rama. However, that is not in the hands of human beings. You are Brahmins, children of Prajapita Brahma. Incorporeal souls are children of the Supreme Father, the Supreme Soul. The inheritance is for Brahma Kumars and Kumaris. Brahma too receives his inheritance from Shiv Baba. This one is also your brother. All the children are brothers and so there is surely one Father of all souls. Now, you mouth-born Brahmins, you children of Brahma, are brothers and sisters. You receive your inheritance from the Grandfather. All souls, whether they are in male or female costumes, have a right to their Grandfather’s inheritance. Only sons receive an inheritance from a physical grandfather. That One is the unlimited Father. In the golden and silver ages, the people of Bharat received a lot of happiness for 21 generations from the unlimited Father. You have now understood the cycle of 84 births. The Father says: I have come as your Guide to take all of you back. You are the ones who come here first, and you are the ones who are here at the end and you are then the first ones who become deities from human beings. Only those who belong to the deity religion take 84 births. Then, numberwise, everyone continues to take fewer births. Those of other religions will definitely take fewer births. That original, eternal, deity religion doesn’t exist now; it is being established once again. You know when Abraham will come again and how long after him Christ will come. Only human beings would know the world history and geography. The Father explains: When all souls become sinful, I come and make them charitable. I am planting the sapling of those who became this in the previous cycle. There was just the one religion in the golden age. Now, in the iron age, there are innumerable religions. There is the gathering of impure souls. The Father comes to purify everyone. He alone is the One who grants salvation. Maya, Ravan brings degradation. This is why they sing in front of the deity idols: I am without virtue, I have no virtues. The Father comes and makes impure ones pure and changes them into those who have divine virtues. You are now continuing to imbibe divine virtues. Then there will be the deity kingdom in Bharat. This world is now changing. You are unlimited sannyasis. Their renunciation is limited, whereas this renunciation is unlimited. You forget the whole of the old world and remember your Father and claim your inheritance. The Father says: If you remember Me, then, through that remembrance, that is, through the fire of yoga, your sins will be absolved and you will become conquerors of sinful actions. Baba has explained that when a group of four or five people come, get each one to fill in a form individually, so that you can tell which religion each one belongs to. There are innumerable religions and innumerable directions. The arrow will only strike those who belong to the deity religion. In Karachi, they always explained to each one individually. The custom of getting them to fill in a form is necessary. They also have to sit in a furnace for seven days because they are greatly diseased. You children are buzzing moths. You have to buzz knowledge and make others the same as yourselves. Only the sapling of those of the deity religion will be planted. You children have to learn different tactics. Tell them: When you first understand this for seven days, you will be able to meet Baba and you will then be coloured. All of you are Brahma Kumars and Kumaris. People don’t even ask what all you Brahma Kumars and Kumaris are about or who you are. Oh! but the children of Prajapita Brahma would surely be called Brahma Kumars and Kumaris, would they not? There cannot be any criminal assault. This is Raja Yoga; it is the God fatherly University. God speaks: I make you into kings of kings. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to become a conqueror of sinful actions, have unlimited disinterest in the whole of the old world. Forget it and stay in remembrance of the one Father.
  2. Serve like a buzzing moth to colour others with knowledge. Be tactful in making those who are greatly diseased free from disease and atheists into theists.
Blessing: May you remain constantly safe and free from any waves of sorrow by staying under the canopy of God’s love.
A lotus grows in dirty water and yet is detached from it. The more detached it is, the more it is loved by everyone. Similarly, you children have become detached from the world of sorrow and are loving to the Father. This love of God becomes a canopy of protection, and what can anyone do to them those who have this canopy of God’s protection? So, maintain the intoxication that you are those who stay under God’s canopy of protection and that no waves of sorrow can even touch you.
Slogan: Those who glorify BapDada’s name and the name of the Brahmin clan with their elevated character are the lamps of the clan.

*** Om Shanti ***

Elevated versions of Mateshwari

1) God is one and all the rest ar e human souls

The whole world knows that God is One and that He is the Almighty Authority, Janijananhar. In fact, the whole world says: We are the children of God. God is One. No matter what religion people belong to, they all say that they believe in God. Some consider themselves to be messengers who have been sent by God. They bring the message and establish their own religion. For instance, Guru Nanak sang such praise of God saying that God is “Ek Omkar”, the Truth. “Ek Omkar” means that God is One. “Satnaam, the name Truth”, means that His name is the Truth, which means that God has a name and form, that He is imperishable. He is the Immortal Image and then He is the One who does everything, that is, although He is Akarta (One who doesn’t do anything), He becomes the One who does everything through the body of Brahma. All of this is praise of the one God. People understand all of this and still say that God is omnipresent. I, the soul, am the Supreme Soul. If all are God, then whose praise is it when they say: Ek omkar. This proves that God is One.

2) Success through direct knowledge from God

We are receiving imperishable knowledge directly from God, the Ocean of Knowledge. We call this knowledge Godly knowledge because it is through this knowledge that human beings attain happiness from the beginning, through the middle to the end, that is, they become liberated from the bondage of sorrow for birth after birth. It is because we don’t come into any bondage of karma that this knowledge is said to be imperishable knowledge. We receive this knowledge from only the one imperishable Supreme Father, the Supreme Soul, because He Himself is imperishable. All human souls have to come into the cycle of birth and death and this is why the knowledge we receive from them will not liberate us from karmic bondages. This is why their knowledge is said to be illusional or perishable knowledge. However, these deities are immortal because they have received this imperishable knowledge from imperishable God and this proves that God is One and that His knowledge is one. In this knowledge, you have to keep two main things in your intellects. We have to remain distant from the influence of vicious, iron-aged company and, secondly, we have to take precautions with our food and not eat or drink impure food. Only by observing these precautions can our lives be worthwhile.

BRAHMA KUMARIS MURLI 17 JULY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 17 July 2018

To Read Murli 16 July 2018 :- Click Here
17-07-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – पावन बनने के लिए अपने स्वधर्म में रहो और अशरीरी बन एक बाप को याद करो”
प्रश्नः- किस विधि से नये स्टूडेन्ट्स पर ज्ञान का रंग लग सकता है?
उत्तर:- उन्हें पहले-पहले सात रोज़ की भट्ठी में बिठाओ। कायदा है – जब कोई भी आता है तो उनसे फार्म भराओ। पहले सात रोज़ भट्ठी में पड़े तब पूरा रंग लगे। तुम भ्रमरियां ज्ञान की भूँ-भूँ कर आप समान बनाती हो। तुम जानती हो – अभी देवता धर्म की सैपलिंग लग रही है। जो इस घराने की आत्मायें होंगी वह महा-रोगी से निरोगी बनने के पुरुषार्थ में लग जायेंगी।
गीत:- महफिल में जल उठी शमा……..

ओम् शान्ति। बच्चों को ओम् शान्ति का अर्थ तो समझाया हुआ है। ओम् अर्थात् अहम्। अहम् कौन? आत्मा और मेरा शरीर कर्मेन्द्रियाँ। आत्मा का स्वधर्म है ही साइलेन्स। आत्मा किसकी सन्तान है? कहेंगे परमपिता परमात्मा की। वह भी साइलेन्स है। आत्मायें साइलेन्स वर्ल्ड शान्तिधाम में रहती हैं। फिर पार्ट बजाने टॉकी वर्ल्ड में आती हैं। अब बेहद का बाप कहते हैं – हे बच्चे, अपने स्वधर्म में रहो। अशरीरी होकर बैठो। बाप को याद करो। उस बाप को शमा भी कहते हैं। अब यह है महफिल पतित मनुष्यों की। इस समय यह पतित दुनिया है। मनुष्य मात्र पतित हैं। समझाया गया है – सतयुग में भारत पावन था। गृहस्थ धर्म कहा जाता है, जिसको सुखधाम कहते हैं। भारत पावन था, अभी पतित है। दु:खधाम है। यह चक्र फिरता रहता है। अभी यह है कल्याणकारी संगमयुग, जबकि पतित मनुष्य-सृष्टि पर बाप को आना पड़ता है – पतित मनुष्य सृष्टि को पावन बनाने। पुरानी दुनिया से नई दुनिया बाप रचता ही बनाते हैं, जिसको परमपिता परमात्मा कहा जाता है। सब भक्तों का भगवान् एक है। तो बाप कहते हैं – मुझे भी पतित दुनिया, पतित शरीर में आना पड़ता है। परमधाम से एक ही बार आता हूँ – भारत को पावन दैवी राज्य बनाने। इस वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी को कोई नहीं जानते क्योंकि सब नास्तिक हैं। एक भी आस्तिक मनुष्य नहीं। बाप को न जानने के कारण निधन के बन पड़े हैं। आपस में लड़ते-झगड़ते रहते हैं। घर-घर में कितनी अशान्ति है! सतयुग आदि में वन ऑलमाइटी अथॉरिटी देवी-देवता राज्य था, सुखधाम था फिर दु:खधाम कैसे बना – यह कोई नहीं जानते।

ज्ञान है ब्रह्मा का दिन। भक्ति है ब्रह्मा की रात। सन्यासी लोग कहते हैं – ज्ञान, भक्ति और वैराग्य। अब वह तो घरबार छोड़ जंगलों में चले जाते हैं। वैराग्य आ जाता है। वह है रजोगुणी सन्यास, यह है सतोप्रधान सन्यास। इस पाप आत्माओं की दुनिया में एक भी पुण्य आत्मा नहीं। तो यह खेल सारा भारत पर है। भारत सोने की चिड़िया था। भारत में सोना और हीरे बहुत अथाह थे। सोने के महल बनते थे और हीरे-जवाहरों की जड़त होती थी। अभी तो भारत कौड़ी जैसा बना हुआ है। फिर उनको हीरे जैसा बाप ही बनाते हैं। तुम जानते हो – हम मनुष्य से देवता बन रहे हैं। अभी वह बाप पतितों की महफिल में आये हैं। मनुष्य समझते हैं – पतित-पावनी गंगा है, स्नान करने जाते हैं। फिर भी कोई पाप आत्मा से पुण्य आत्मा नहीं बनते। फिर साल बाई साल जाकर गंगा स्नान करते हैं। इस समय कोई भी पावन नहीं है। जब तक पावन बनाने वाला बाप न आये तब तक पावन बन न सकें। पावन बनाते हैं गीता का भगवान्। वह भगवान् तो सभी आत्माओं का बाप एक ही है। ऐसे नहीं कि सब भक्त भगवान् हैं वा सर्वव्यापी भगवान् है। यह तो भगवान् की ग्लानी करते हैं इसलिए यदा यदाहि…….. यह भारत के लिए ही गाया हुआ है। जो बाप आकर भारत को हीरे जैसा बनाते हैं उनकी कितनी निंदा करते हैं। ऋषि-मुनि फिर कहते आये – रचता और रचना बेअन्त है अथवा नेती-नेती है, हम नहीं जानते। और आजकल के मनुष्य फिर कह देते सर्वव्यापी है। बाप कहते हैं – ऐसे जब बन जाते हैं तब मैं आकर पाप आत्मा से पुण्य आत्मा, देवता बनाता हूँ। सबका सद्गति दाता है ही एक। वही आकर पतित से पावन बनाए लायक बनाते हैं। बच्चों को वर्सा देते हैं। लौकिक बाप से मिला है अल्पकाल का वर्सा। बेहद का बाप कहते हैं – मैं तुमको 21 जन्मों लिए वर्सा देता हूँ पवित्रता, शान्ति और सुख का, जो लौकिक बाप दे न सके। वह बाप भी है, शिक्षक भी है, ज्ञान का सागर भी है। बाप की महिमा बड़ी ऊंच है, मनुष्य सृष्टि का बीजरूप भी है। यह मनुष्य सृष्टि का वैरायटी धर्मों का झाड़ है। आदि सनातन देवी-देवता धर्म है सतयुग का। उनसे फिर और धर्म इमर्ज होते हैं। अभी तुम ब्राह्मण धर्म के बने हो। इनसे पहले शूद्र धर्म के थे। अभी ब्राह्मण से फिर सो देवता फिर सो क्षत्रिय बनेंगे। यह 84 का चक्र लगाना पड़ता है। सतयुग में भी पहले-पहले तुम आयेंगे। गाया भी जाता है – आत्मा परमात्मा अलग रहे……..। गीत में भी सुना – चारों तरफ लगाये फेरे फिर भी हरदम दूर रहे अर्थात् बाप से मिल न सके।

अभी है रावण राज्य। राम राज्य है डीटी राज्य। मनुष्य तो समझते हैं – स्वर्ग-नर्क यहाँ ही है। परन्तु ऐसे हो नहीं सकता। मनुष्य मरता है तो कहते हैं स्वर्गवासी हुआ तो जरूर नर्क में था। तो जरूर पुनर्जन्म नर्क में ही लेना पड़े। मनुष्यों की तो अनेक मतें हैं। एक न मिले दूसरे से। अनेक प्रकार की द्वेत मतें हैं। आधा कल्प भारत में होती है दैवी मत। अब है आसुरी मत। भारतवासी जिस भगवान् को याद करते हैं, उस पारलौकिक बाप को तो जानना चाहिए ना। अभी भारत कौड़ी मिसल है। उनको हीरे जैसा बनाना है। गांधी अथवा नेहरू भी चाहते थे – भारत में वर्ल्ड आलमाइटी अथॉरिटी रामराज्य हो। समझते हैं – कोई समय भारत में था, अभी नहीं है इसलिए रामराज्य की कोशिश करते हैं। परन्तु यह कोई मनुष्य के हाथ में नहीं है। तुम हो ब्राह्मण, प्रजापिता ब्रह्मा की सन्तान। निराकार आत्मायें हैं परमपिता परमात्मा की सन्तान। वर्सा है ब्रह्माकुमार कुमारियों को। ब्रह्मा को भी वर्सा शिवबाबा से मिलता है। यह भी भाई हो गया। बच्चे सब हैं भाई-भाई तो जरूर एक बाप है सब आत्माओं का। अभी तुम ब्रह्मा की मुख वंशावली ब्राह्मण आपस में भाई-बहन ठहरे। तुमको वर्सा मिलता है दादे से। दादे के वर्से पर सभी आत्माओं का हक है। चाहे स्त्री, चाहे पुरुष के चोले में हो। लौकिक दादे का वर्सा सिर्फ बच्चों को मिलता है। यह तो बेहद का बाप है ना। भारतवासियों को सतयुग-त्रेता में बेहद के बाप से 21 पीढ़ी का बहुत सुख मिला हुआ है। तुम 84 के चक्र को अभी समझ गये हो। बाप कहते हैं – मैं गाइड बनकर आया हूँ तुम सबको ले जाने। तुम ही पहले-पहले आये थे। अभी लास्ट में भी तुम हो। फिर पहले-पहले तुम ही मनुष्य से देवता बनने वाले हो। देवी-देवता धर्म वाले ही 84 जन्म लेते हैं। फिर नम्बरवार सबके कम जन्म होते जाते हैं। और धर्म वालों के जरूर कम जन्म होंगे। अभी वह आदि सनातन देवी-देवता धर्म नहीं है। फिर से स्थापन हो रहा है। तुम जानते हो इब्राहम फिर कब आयेगा? क्राइस्ट कितने समय बाद आयेगा? यह वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी मनुष्य ही तो जानेंगे ना। बाप समझाते हैं – जब सभी पाप आत्मा बन जाते हैं तब मैं आकर पुण्य आत्मा बनाता हूँ। जो कल्प पहले बने थे उनका सैपलिंग लगा रहा हूँ। सतयुग में था ही एक धर्म। अभी तो कलियुग में अनेक धर्म हैं। पतित आत्माओं की महफिल है। बाप आते हैं सबको पावन बनाने। सद्गति देने वाला वही एक है। माया रावण दुर्गति करती है इसलिए देवताओं के आगे जाकर गाते हैं – मैं निर्गुण हारे में कोई गुण नाहीं। बाप आकर पतित से पावन बनाए दैवी गुणों वाला बनाते हैं। अभी तुम दैवी गुण धारण करते जाते हो। फिर भारत में दैवी राज्य बन जायेगा। अभी यह दुनिया बदल रही है।

तुम हो बेहद के सन्यासी। उन्हों का है हद का वैराग्य। यह है बेहद का वैराग्य। तुम सारी पुरानी सृष्टि को भूल अपने बाप को याद कर वर्सा लेते हो। बाप कहते हैं – मुझे याद करेंगे तो उस याद अथवा योग अग्नि से विकर्म विनाश होंगे। फिर तुम विकर्माजीत बनेंगे। बाबा ने समझाया है – जब कोई 4-5 इकट्ठे आते हैं तो फार्म अलग अलग भराओ। तो मालूम पड़े कि वह किस धर्म का है? अनेक धर्म, अनेक मतें हैं ना। देवी-देवता धर्म वालों को ही तीर लगेगा। कराची में हमेशा अलग-अलग समझाते थे। फार्म भराने का कायदा भी जरूरी है। 7 रोज़ भट्ठी में पड़ना पड़े क्योंकि महारोगी बन पड़े हैं। (भ्रमरी का मिसाल) तुम बच्चे भ्रमरियाँ हो। भूँ-भूँ कर आप समान बनाना पड़ता है। देवता धर्म वालों की ही सैपलिंग लगेगी। बच्चों को युक्तियाँ भी सीखनी है। बोलो – सात रोज़ जब समझो तब मुलाकात हो सकेगी और तुम पर रंग भी तब लगेगा। तुम सभी ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ हो। मनुष्य इतना भी नहीं पूछते इतने ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ क्या हैं? कौन हैं? अरे, प्रजापिता ब्रह्मा की सन्तान तो जरूर ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ कहेंगे ना। क्रिमिनल एसाल्ट हो न सके। यह है राजयोग, गॉड फादरली युनिवर्सिटी। भगवानुवाच – मैं तुमको राजाओं का राजा बनाता हूँ। अच्छा –

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) विकर्माजीत बनने के लिए सारी पुरानी दुनिया से बेहद का वैराग्य कर, इसे भूल एक बाप की याद में रहना है।

2) भ्रमरी मिसल ज्ञान रंग लगाने की सेवा करनी है। युक्ति से महारोगियों को निरोगी, नास्तिक को आस्तिक बनाना है।

वरदान:- परमात्म प्यार की छत्रछाया में सदा सेफ रहने वाले दु:खों की लहरों से मुक्त भव
जैसे कमल पुष्प कीचड़ पानी में होते भी न्यारा रहता है। और जितना न्यारा उतना सबका प्यारा है। ऐसे आप बच्चे दु:ख के संसार से न्यारे और बाप के प्यारे हो गये, यह परमात्म प्यार छत्रछाया बन जाता है। और जिसके ऊपर परमात्म छत्रछाया है उसका कोई क्या कर सकता! इसलिए फ़खुर में रहो कि हम परमात्म छत्रछाया में रहने वाले हैं, दु:ख की लहर हमें स्पर्श भी नहीं कर सकती।
स्लोगन:- जो अपने श्रेष्ठ चरित्र द्वारा बापदादा तथा ब्राह्मण कुल का नाम रोशन करते हैं वही कुल दीपक हैं।

मातेश्वरी जी के महावाक्य

1. “परमात्मा एक है बाकी सर्व मनुष्य आत्मायें हैं”

अब यह तो सारी दुनिया जानती है कि परमात्मा एक है वो सर्वशक्तिवान है, जानीजाननहार है, ऐसे तो सारी दुनिया खुद भी कहती है हम परमात्मा की सन्तान हैं। परमात्मा एक है, भल कोई धर्म वाला हो वो भी परमात्मा को ही मानते हैं। वो भी अपने को परमात्मा द्वारा भेजा हुआ सन्देशवाहक समझते हैं, ऐसे ही सन्देश लेकर अपने अपने धर्म की स्थापना करते हैं। जैसे गुरुनानक ने भी परमात्मा की इतनी बड़ाई की एकोंकार सत् नाम। एकोंकार का अर्थ है परमात्मा एक है। सत् नाम अर्थात् उसका नाम सत्य है तो गोया परमात्मा नाम रूप वाला भी है, अविनाशी है, अकालमूर्त भी है तो फिर कर्ता पुरुष भी है माना वो खुद अकर्ता होते हुए भी कैसे ब्रह्मा तन द्वारा कर्ता पुरुष भी बनता है। अब यह सारी महिमा एक परमात्मा की है, अब मनुष्य इतना समझते हुए फिर भी कहते हैं ईश्वर सर्वत्र है। अहम् आत्मा सो परमात्मा है, अगर सभी परमात्मा ठहरे फिर एकोंकार ….यह महिमा किस परमात्मा की करते हैं? इससे सबूत है कि परमात्मा एक है।

2- “डायरेक्ट ईश्वरीय ज्ञान से सफलता”

यह जो अपने को अविनाशी ज्ञान मिल रहा है वो डायरेक्ट ज्ञान सागर परमात्मा द्वारा मिल रहा है। इस ज्ञान को हम ईश्वरीय ज्ञान कहते हैं क्योंकि इस ज्ञान से मनुष्य आदि मध्य अन्त सुख पाते हैं अर्थात् जन्म-जन्मान्तर दु:ख के बंधन से छूट जाते हैं। कर्मबन्धन में नहीं आते इसीलिए ही इस ज्ञान को अविनाशी ज्ञान कहा जाता है। अब यह ज्ञान सिर्फ एक ही अविनाशी परमपिता परमात्मा द्वारा हमें प्राप्त होता है क्योंकि वो खुद अविनाशी है। बाकी तो सब मनुष्य आत्मायें जन्म मरण के चक्र में आने वाली हैं इसलिए उनसे मिला हुआ ज्ञान हमें कर्मबन्धन से छुटकारा देने वाला नहीं है। इस कारण उन्हों के ज्ञान को मिथ्या ज्ञान अथवा विनाशी ज्ञान कहेंगे। लेकिन यह देवतायें सदा अमर हैं क्योंकि इन्होंने अविनाशी परमात्मा द्वारा यह अविनाशी ज्ञान प्राप्त किया है, तो इससे साबित है कि परमात्मा भी एक है तो उसका ज्ञान भी एक है, इस ज्ञान में दो मुख्य बातें बुद्धि में रखनी हैं, एक तो इसमें विकारी कलियुगी संगदोष से दूर होना है और दूसरी बात कि मलेच्छ खान-पान आदि की परहेज़ रखनी है। इस परहेज रखने से ही जीवन सफल होती है। अच्छा। ओम् शान्ति।

Font Resize