17 JANUARY ki murli

TODAY MURLI 17 JANUARY 2021 DAILY MURLI (English)

17/01/21
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
14/10/87

Brahmin life is the life to experience all relationships with the Father.

Today, BapDada has once again come to meet His children who have celebrated many meetings and who have been meeting Him for many cycles. This alokik meeting cannot take place even in the future beautiful golden age. Only the time of this special age has this blessing of a meeting between the Father and the children. This is why this age is called the confluence age, that is, the age in which to celebrate a meeting. In such an age, it is you souls who are the special actors who celebrate such an elevated meeting. BapDada too is pleased to see you handful of elevated, fortunate souls out of multimillions – and He reminds you of this fact. How many things has Baba reminded you of from the beginning till the end? If you remember these, a long list will emerge. He has reminded you of so many things that all of you have become embodiments of remembrance. On the path of devotion, devotees continue to have remembrance at every moment, as a memorial of you souls who are embodiments of remembrance. They continue to remember the speciality of every action of you souls who are embodiments of remembrance. The speciality of devotion is to remember, that is, to sing praise. While having remembrance, they become so lost in that intoxication that, for a short time, they have no awareness of anything. While remembering, they become lost in that, that is, they become absorbed in that. The experience they have for a short time is so lovely and unique for those souls. Why is that? Because the souls they remember were constantly merged in love for the Father; those souls were constantly lost in all the attainments they had received from the Father. This is why, when such souls are remembered, those devotee souls receive for a short time a drop of that experience from you blessed souls. So just think: If devotee souls who remember them have such an alokik experience, then how many experiences do you souls who are embodiments of remembrance, bestowers of blessings and bestowers of fortune, have in your practical life? Always continue to move forward with these experiences.

At every step, continue to experience being an embodiment of different forms of awareness. Experience being an emerged embodiment of remembrance, according to the time and according to the activity. For instance: at amrit vela, when the day begins and I am celebrating a meeting with the Father, I am an elevated soul, a master bestower of blessings who is taking blessings from the Bestower of Blessings. I am a multimillion times fortunate soul who is receiving fortune directly from the Bestower of Fortune. Bring this elevated form into your awareness. It is a time that is blessed and you have the Bestower of Blessings and the Bestower of Fortune with you. As a master bestower of blessings, you yourself are becoming full and you are a blessed soul, who is enabling other souls to receive a blessing. Make the awareness of this form emerge. Do not think that you are like that anyway but experience the different forms of awareness, according to the time and you will become a treasure-store of many unique types of happiness and unique attainments. Songs of attainment will then constantly emerge in your heart in the unspoken words, “I have attained what I wanted to attain.” In this way, continue to experience being different forms of awareness according to the time and activity. When listening to the murli, have the awareness that you have a Godly student life, that is, you are a student of God and that God Himself has come from the supreme land especially to teach you. The special attainment is that God Himself comes. When you listen to the murli as an embodiment of this awareness, you have so much intoxication. If the one who is reading the murli is reading it in an ordinary way, according to the discipline, and those who are listening to it are listening to it in that way, then you would not have that much intoxication. However, become aware of your form – that you are a student of God – and then listen to it and you will experience alokik intoxication. Do you understand?

There would be so much intoxication of the different forms of awareness at different times. In this way, continue to be an embodiment of remembrance of the Father throughout the day in every activity. Sometimes, experience God as the Friend or the Companion, sometimes as your Life Partner, sometimes God is your especially beloved Child, that is, the One who has a right, your first Heir. When a child is very beautiful and worthy, the parents feel so much intoxication that their child is a lamp of the family, one who will glorify the family’s name. The name of someone whose child is God would be glorified so much. Their clan would benefit so much. So, when you sometimes feel yourself a little lonely or sad with the atmosphere of the world or the different problems, play with such a beautiful Child; play with Him as your Friend. When you are sometimes tired, go to sleep in the lap of the Mother; merge in Her lap. At time, when you feel disheartened, experience being an embodiment of the awareness of a master almighty authority with the Almighty Authority. Then, from being disheartened, your heart will become happy. At different times and in different relationships, have the awareness of the different forms that have emerged and you will automatically experience the Father’s constant company. You will then always continue to experience this Brahmin life of the confluence age to be invaluable.

Another thing is that you will be so busy fulfilling the responsibility of all these relationships that Maya will not have time to come to you. Those who look after a big household always say that they are so busy looking after such a big household that they don’t remember anything else. So, the Godly activity of you Brahmin souls in fulfilling your responsibility of love to God is so great! Your activity of love for God continues even in your sleep. When you are in a state of yoga in your sleep, then, that is not sleep, but yoga in sleep. You can then experience meeting God even in your sleep. Yoga means meeting. Sleeping in yoga means to experience the bodiless stage. So, this is also love for God, is it not? So, no one else has as much activity as you. You don’t have even one second free. On the path of devotion, in the form of devotees you continued to sing songs about how you met Him after many days, and how you will therefore take every bit in return from Him. So, you are those who take every second into account. You fulfil the account of the whole cycle in the meeting of this one small birth. Compared with 5000 years, this small birth is just like a few days, is it not? So, in just a few days, you have to settle the account of such a long period, and this is why you are told to have remembrance in every breath. Devotees chant, whereas you become embodiments of remembrance. So, do you have even one second free? It is such a great activity. That little household’s activity would not attract you away from this activity, and you will easily and automatically be able to become a conqueror of attachment to bodily relations, including your own body and all the physical possessions and attainments of the body, and then become an embodiment of remembrance. This last paper will make you into the beads of the rosary, numberwise.

When you have become experienced in the different forms of awareness from amrit vela until the stage of yoga in sleep, then the experience of being an embodiment of awareness over a long period of time will make you pass with honours in the question of being an embodiment of remembrance. You will experience life to be very entertaining, because every human soul wants to have variety in life. So, throughout the day, experience the variety of the different relationships and different forms of awareness. In the world, too, people say that a father is definitely needed, but if, as well as a father, you don’t have the experience of a life companion, then, in that case too, life would be considered to be incomplete. Even if you don’t have a child, life is said to be incomplete. Only when there is every relationship is life said to be complete. So, this Brahmin life is a complete life in which you experience every relationship with God. Do not miss out on even one relationship. If even one relationship with God is missing, then one soul or another will draw you towards himself through that relationship. Some children sometimes say: There is the relationship with the Father, but the relationship of the Friend is a ‘small’ (minor) relationship and you need other souls for that, because the Father is ‘big’. However, if, while having relationships with God, any minor or light relationship with other souls becomes mixed with that, then the word “all” finishes and you come into the line of being “according to capacity”. In the language of Brahmins, the word “all” is applied to everything. Only where there is “all” is there completeness. If there are even two degrees less, you become the beads of the second rosary. Therefore, become an embodiment of the awareness of all relationships. Do you understand? Since God Himself is offering to give you the experience of all relationships, you should take that offer, should you not? Only God can make you this golden offer at this time. At no other time can anyone else make you this offer. Is it possible for someone to be your father and also your child? This is the praise of only the One; this is the greatness of just the One. Therefore, become an embodiment of remembrance in all relationships. There is pleasure in this, is there not? What is Brahmin life for? To stay in pleasure and to enjoy yourself. So, celebrate in this alokik pleasure. Experience a life of pleasure. Achcha.

Today, those from the court of Delhi are here. Are you those who are part of the royal court? Or, are you those who are just observers of the court? In a court, there are both sitting: those who are part of the court and those who are observers of the court. Who are all of you? Delhi has two specialities. 1. Delhi is at the heart of the Comforter of Hearts. 2. It is from there that the kingdom is ruled. It is at the heart, and so who would be in your heart? The Comforter of Hearts. So, the residents of Delhi are those who constantly keep the Comforter of Hearts in their heart. You are such experienced souls and you have a right to self-sovereignty and also world sovereignty in the future. When you have the Comforter of Hearts in your heart, you have a right to the kingdom now and you will always have that right. So, always check to see whether you have both these specialities in your life: to have the Comforter of Hearts in your heart and also to have a right. Those who take such a golden chance, not just a golden chance, but those who take a diamond chance, are so fortunate. Achcha.

You have now received a very good facility for unlimited service, whether in this land or abroad. As is the name, so too, the task is also just as beautiful. Hearing the name, everyone becomes enthusiastic – “Global Co-operation for a Better World”. This is a very long task; it will take longer than a year. So, just as everyone is enthusiastic as soon as they hear the name of the project, in the same way, they will carry out the task with enthusiasm. Just as you are all happy hearing the beautiful name, similarly, when the task is carried out, you will remain constantly happy. You were told that the curtain of revelation has begun to move, that is, the basis on which the curtain will open has been created and will continue to be created. Just as the name of the task, “Global Co-operation”, you will also become embodiments of that and will continue to carry out the task easily. You will then experience the effort to be just effort in name and will attain multimillionfold success. You will feel that Karavanhar has made you an instrument and is making you do it. You won’t feel “I am doing it.” People won’t become co-operative when you have that awareness. Karavanhar is making you do it; the One who is doing everything is carrying out the task. Similarly, all of you remember Jagadamba’s slogan of: The One who is giving the orders is making us carry them out. Always keep this slogan in your awareness and you will continue to achieve success. There is very good zeal and enthusiasm in all directions. Where there is zeal and enthusiasm, success itself comes close and becomes a garland around your neck. This unlimited task will make many souls co-operate and bring them closer, because, after the curtain of revelation opens, people of every profession have to be revealed on this unlimited stage. Every background means the collection of the variety tree of souls of the whole world. No profession should be left out that they would complain that they didn’t receive the message. Therefore, all backgrounds means from leaders to slum dwellers. To do service is to give this knowledge to the topeducated scientists and also to those who are uneducated. So, all walks of life means that this message has to reach every soul of the world. It is such a huge task. None of you can say that you are not given a chance to do service. If someone is ill, then ill ones can serve those who are ill. Uneducated ones can serve those who are uneducated. Whatever anyone can do, there is this chance. Achcha, if you are unable to speak, then with your thoughts create an attitude of happiness and with your happy stage make the world happy. None of you can make the excuse that you are not able to do anything or that you don’t have time. While sitting or moving around, do service even for 10 minutes. You will give your finger of co-operation, will you not? If you are not able to go anywhere, if your health is not good, you can do this while sitting at home. It is essential for you to be co-operative, for only then will you receive everyone’s co-operation. Achcha.

BapDada is also pleased to see your zeal and enthusiasm. You all have the desire in your hearts to open the curtain of revelation and reveal what is behind it. This has started to happen, and so it will continue to become easy. The plans of the children abroad continue to reach BapDada. They themselves have this enthusiasm and they also continue to receive everyone’s co-operation with zeal and enthusiasm. Where there is zeal, you receive zeal and where there is enthusiasm, you receive enthusiasm, and so this meeting is taking place. Therefore, make this task progress with a lot of pomp and splendour. Whatever you have done, you have done it with zeal and enthusiasm and, with the Father’s and all the Brahmins’ co-operation, good wishes and pure feelings, it will continue to move forward even more. Achcha.

To the elevated children everywhere who have constant zeal and enthusiasm for having remembrance and doing service, to the experienced souls who experience being an embodiment of awareness in every action, to the elevated souls who constantly experience all relationships with the Father in every action, to the great souls who live their Brahmin lives in pleasure, please accept BapDada’s remembrance filled with deep love.

Blessing: May you be multimillion times fortunate and receive one hundredfold return of one at the confluence age.
Only the confluence age is the age where you receive one hundredfold practical fruit of one. Once you simply have the thought, “I belong to the Father, I am a master almighty authority”, you will experience the intoxication of being a conqueror of Maya and of being victorious. To have this elevated thought is the seed and the greatest fruit of that is that the Father, the Supreme Soul, Himself, comes in a human form to meet you. All fruits are included in this fruit.
Slogan: A true Brahmin is one whose face and character give the experience of the personality and royalty of purity.

 

*** Om Shanti ***

Notice: Today is the third Sunday World Meditation Hour yoga from 6.30 – 7.30 pm when all brothers and sisters especially sit to have yoga tapasya and with your thoughts filled with good wishes, do the service of giving all souls of the world and also including matter, vibrations of peace and power.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 17 JANUARY 2021 : AAJ KI MURLI

17-01-21
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 14-10-87 मधुबन

ब्राह्मण जीवन – बाप से सर्व सम्बन्ध अनुभव करने की जीवन

आज बापदादा अपने अनेक बार मिलन मनाने वाले, अनेक कल्पों से मिलने वाले बच्चों से फिर मिलन मनाने आये हैं। यह अलौकिक, अव्यक्ति मिलन भविष्य स्वर्ण युग में भी नहीं हो सकता। सिर्फ इस समय इस विशेष युग को वरदान है – बाप और बच्चों के मिलने का इसलिए इस युग का नाम ही है संगमयुग अर्थात् मिलन मनाने का युग। ऐसे युग में ऐसा श्रेष्ठ मिलन मनाने के विशेष पार्टधारी आप आत्मायें हो। बापदादा भी ऐसे कोटों में कोई श्रेष्ठ भाग्यवान आत्माओं को देख हर्षित होते हैं और स्मृति दिलाते हैं। आदि से अन्त तक कितनी स्मृतियाँ दिलाई हैं? याद करो तो लम्बी लिस्ट निकल आयेगी। इतनी स्मृतियाँ दिलाई हैं जो आप सभी स्मृति-स्वरूप बन गये हो। भक्ति में आप स्मृति-स्वरूप आत्माओं के यादगार रूप में भक्त भी हर समय सिमरण करते रहते हैं। आप स्मृतिस्वरूप आत्माओं के हर कर्म की विशेषता का सिमरण करते रहते हैं। भक्ति की विशेषता ही सिमरण अर्थात् कीर्तन करना है। सिमरण करते-करते मस्ती में कितना मग्न हो जाते हैं। अल्पकाल के लिए उन्हों को भी और कोई सुध-बुध नहीं रहती। सिमरण करते-करते उसमें खो जाते हैं अर्थात् लवलीन हो जाते हैं। यह अल्पकाल का अनुभव उन आत्माओं के लिए कितना प्यारा और न्यारा होता है! यह क्यों होता? क्योंकि जिन आत्माओं का सिमरण करते हैं, यह आत्मायें स्वयं भी बाप के स्नेह में सदा लवलीन रही हैं, बाप की सर्व प्राप्तियों में सदा खोई हुई रही हैं इसलिए, ऐसी आत्माओं का सिमरण करने से भी उन भक्तों को अल्पकाल के लिए आप वरदानी आत्माओं द्वारा अंचली रूप में अनुभूति प्राप्त हो जाती है। तो सोचो, जब सिमरण करने वाली भक्त आत्माओं को भी इतना अलौकिक अनुभव होता है तो आप स्मृति-स्वरूप, वरदाता, विधाता आत्माओं को कितना प्रैक्टिकल जीवन में अनुभव प्राप्त होता है! इसी अनुभूतियों में सदा आगे बढ़ते चलो।

हर कदम में भिन्न-भिन्न स्मृति-स्वरूप का अनुभव करते चलो। जैसा समय, जैसा कर्म वैसे स्वरूप की स्मृति इमर्ज (प्रत्यक्ष) रूप में अनुभव करो। जैसे, अमृतवेले दिन का आरम्भ होते बाप से मिलन मनाते – मास्टर वरदाता बन वरदाता से वरदान लेने वाली श्रेष्ठ आत्मा हूँ, डायरेक्ट भाग्यविधाता द्वारा भाग्य प्राप्त करने वाली पद्मापद्म भाग्यवान आत्मा हूँ – इस श्रेष्ठ स्वरूप को स्मृति में लाओ। वरदानी समय है, वरदाता विधाता साथ में है। मास्टर वरदानी बन स्वयं भी सम्पन्न बन रहे हो और अन्य आत्माओं को भी वरदान दिलाने वाले वरदानी आत्मा हो – इस स्मृति-स्वरूप को इमर्ज करो। ऐसे नहीं कि यह तो हूँ ही। लेकिन भिन्न-भिन्न स्मृति-स्वरूप को समय प्रमाण अनुभव करो तो बहुत विचित्र खुशी, विचित्र प्राप्तियों का भण्डार बन जायेंगे और सदैव दिल से प्राप्ति के गीत स्वत: ही अनहद शब्द के रूप में निकलता रहेगा – “पाना था सो पा लिया…”। इसी प्रकार भिन्न-भिन्न समय और कर्म प्रमाण स्मृति-स्वरूप का अनुभव करते जाओ। मुरली सुनते हो तो यह स्मृति रहे कि गॉडली स्टूडेन्ट लाइफ (ईश्वरीय विद्यार्थी जीवन) अर्थात् भगवान का विद्यार्थी हूँ, स्वयं भगवान मेरे लिए परमधाम से पढ़ाने लिए आये हैं। यही विशेष प्राप्ति है जो स्वयं भगवान आता है। इसी स्मृति-स्वरूप से जब मुरली सुनते हैं तो कितना नशा होता! अगर साधरण रीति से नियम प्रमाण सुनाने वाला सुना रहा है और सुनने वाला सुन रहा है तो इतना नशा अनुभव नहीं होगा। लेकिन भगवान के हम विद्यार्थी हैं – इस स्मृति को स्वरूप में लाकर फिर सुनो, तब अलौकिक नशे का अनुभव होगा। समझा?

भिन्न-भिन्न समय के भिन्न-भिन्न स्मृति-स्वरूप के अनुभव में कितना नशा होगा! ऐसे सारे दिन के हर कर्म में बाप के साथ स्मृति-स्वरूप बनते चलो – कभी भगवान का सखा वा साथी रूप का, कभी जीवन-साथी रूप का, कभी भगवान मेरा मुरब्बी बच्चा है अर्थात् पहला-पहला हकदार, पहला वारिस है। कोई ऐसा बहुत सुन्दर और बहुत लायक बच्चा होता है तो माँ-बाप को कितना नशा रहता है कि मेरा बच्चा कुल दीपक है वा कुल का नाम बाला करने वाला है! जिसका भगवान बच्चा बन जाए, उसका नाम कितना बाला होगा! उसके कितने कुल का कल्याण होगा! तो जब कभी दुनिया के वातावरण से या भिन्न-भिन्न समस्याओं से थोड़ा भी अपने को अकेला या उदास अनुभव करो तो ऐसे सुन्दर बच्चे रूप से खेलो, सखा रूप में खेलो। कभी थक जाते हो तो माँ के रूप में गोदी में सो जाओ, समा जाओ। कभी दिलशिकस्त हो जाते हो तो सर्वशक्तिवान स्वरूप से मास्टर सर्वशक्तिवान के स्मृति-स्वरूप का अनुभव करो तो दिलशिकस्त से दिलखुश हो जायेंगे। भिन्न-भिन्न समय पर भिन्न-भिन्न सम्बन्ध से, भिन्न-भिन्न अपने स्वरूप के स्मृति को इमर्ज रूप में अनुभव करो तो बाप का सदा साथ स्वत: ही अनुभव करेंगे और यह संगमयुग की ब्राह्मण जीवन सदा ही अमूल्य अनुभव होती रहेगी।

और बात – कि इतने सर्व सम्बन्ध निभाने में इतने बिज़ी रहेंगे जो माया को आने की भी फुर्सत नहीं मिलेगी। जैसे लौकिक बड़ी प्रवृत्ति वाले सदैव यही कहते कि प्रवृत्ति को सम्भालने में इतने बिजी रहते हैं जो और कोई बात याद ही नहीं रहती है क्योंकि बहुत बड़ी प्रवृत्ति है। तो आप ब्राह्मण आत्माओं की प्रभु से प्रीत निभाने की प्रभु-प्रवृत्ति कितनी बड़ी है! आपकी प्रभु-प्रीत की प्रवृत्ति सोते हुए भी चलती है! अगर योगनिंद्रा में हो तो आपकी निंद्रा नहीं लेकिन योगनिंद्रा है। नींद में भी प्रभु-मिलन मना सकते हो। योग का अर्थ ही है मिलन। योगनिंद्रा अर्थात् अशरीरी-पन के स्थिति की अनुभूति। तो यह भी प्रभु-प्रीत है ना। तो आप जैसी बड़े ते बड़ी प्रवृत्ति किसकी भी नहीं है! एक सेकेण्ड भी आपको फुर्सत नहीं है क्योंकि भक्ति में भक्त के रूप में भी गीत गाते रहते थे कि बहुत दिनों के बाद प्रभु आप मिले हो, तो गिन-गिन के हिसाब पूरा लेंगे। तो एक-एक सेकेण्ड का हिसाब लेने वाले हो। सारे कल्प के मिलने का हिसाब इस छोटे से एक जन्म में पूरा करते हो। पांच हजार वर्ष के हिसाब से यह छोटा-सा जन्म कुछ दिनों के हिसाब में हुआ ना। तो थोड़े से दिनों में इतना लम्बे समय का हिसाब पूरा करना है, इसलिए कहते हैं श्वांसो-श्वांस सिमरो। भक्त सिमरण करते हैं, आप स्मृति-स्वरूप बनते हो। तो आपको सेकेण्ड भी फुर्सत है? कितनी बड़ी प्रवृत्ति है! इसी प्रवृत्ति के आगे वह छोटी-सी प्रवृत्ति आकर्षित नहीं करेगी और सहज, स्वत: ही देह सहित देह के सम्बन्ध और देह के पदार्थ वा प्राप्तियों से नष्टोमोहा, स्मृति-स्वरूप हो जायेंगे। यही लास्ट पेपर माला के नम्बरवार मणके बनायेगा।

जब अमृतवेले से योगनिंद्रा तक भिन्न-भिन्न स्मृति-स्वरूप के अनुभवी हो जायेंगे तो बहुतकाल के स्मृति-स्वरूप का अनुभव अन्त में स्मृति-स्वरूप के क्वेश्चन में पास विद् आनर (झ्ass wग्tप् प्दहदल्r) बना देगा। बहुत रमणीक जीवन का अनुभव करेंगे क्योंकि जीवन में हर एक मनुष्य आत्मा की पसन्दी ‘वैराइटी हो’- यही चाहते हैं। तो यह सारे दिन में भिन्न-भिन्न सम्बन्ध, भिन्न-भिन्न स्वरूप की वैराइटी अनुभव करो। जैसे दुनिया में भी कहते हैं ना – बाप तो चाहिए ही लेकिन बाप के साथ अगर जीवन-साथी का अनुभव न हो तो भी जीवन अधूरी समझते हैं, बच्चा न हो तो भी अधूरी जीवन समझते हैं। हर सम्बन्ध को ही सम्पन्न जीवन समझते हैं। तो यह ब्राह्मण जीवन भगवान से सर्व सम्बन्ध अनुभव करने वाली सम्पन्न जीवन है! एक भी सम्बन्ध की कमी नहीं करना। एक सम्बन्ध भी भगवान से कम होगा, तो कोई न कोई आत्मा उस सम्बन्ध से अपने तरफ खींच लेगी। जैसे कई बच्चे कभी-कभी कहते हैं बाप के रूप में तो है ही लेकिन सखा व सखी अथवा मित्र का तो छोटा-सा रूप है ना, उसके लिए तो आत्मायें चाहिए क्योंकि बाप तो बड़ा है ना। लेकिन परमात्मा के सम्बन्ध के बीच कोई भी छोटा या हल्का आत्मा का सम्बन्ध मिक्स हो जाता तो ‘सर्व’ शब्द समाप्त हो जाता है और यथाशक्ति की लाइन में आ जाते हैं। ब्राह्मणों की भाषा में हर बात में ‘सर्व’ शब्द आता है। जहाँ ‘सर्व’ है, वहाँ ही सम्पन्नता है। अगर दो कला भी कम हो गई तो दूसरी माला के मणके बन जाते इसलिए, सर्व सम्बन्धों के सर्व स्मृति-स्वरूप बनो। समझा? जब भगवान खुद सर्व सम्बन्ध का अनुभव कराने की आफर कर रहा है तो आफरीन लेना चाहिए ना। ऐसी गोल्डन आफर सिवाए भगवान के और इस समय के, न कभी और न कोई कर सकता। कोई बाप भी बने और बच्चा भी बने – यह हो सकता है? यह एक की ही महिमा है, एक की ही महानता है इसलिए सर्व सम्बन्ध से स्मृति-स्वरूप बनना है। इसमें मज़ा है ना? ब्राह्मण जीवन किसलिए है? मज़े में वा मौज में रहने के लिए। तो यह अलौकिक मौज मनाओ। मज़े की जीवन अनुभव करो। अच्छा।

आज देहली दरबार वाले हैं। राज्य दरबार वाले हो या दरबार में सिर्फ देखने वाले हो? दरबार में राज्य करने वाले और देखने वाले – दोनों ही बैठते हैं। आप सब कौन हो? देहली की दो विशेषतायें हैं। एक – देहली दिलाराम की दिल है, दूसरा – गद्दी का स्थान है। दिल है तो दिल में कौन रहेगा? दिलाराम। तो देहली निवासी अर्थात् दिल में सदा दिलाराम को रखने वाले। ऐसे अनुभवी आत्मायें और अभी से स्वराज्य अधिकारी सो भविष्य में विश्व-राज्य अधिकारी। दिल में जब दिलाराम है तो राज्य अधिकारी अभी हैं और सदा रहेंगे। तो सदा अपनी जीवन में देखो कि यह दोनों विशेषतायें हैं? दिल में दिलाराम और फिर अधिकारी भी। ऐसे गोल्डन चांस, गोल्डन से भी डायमण्ड चांस लेने वाले कितने भाग्यवान हो! अच्छा।

अभी तो बेहद सेवा का बहुत अच्छा साधन मिला है – चाहे देश में, चाहे विदेश में। जैसे नाम है, वैसे ही सुन्दर कार्य है! नाम सुन करके ही सभी को उमंग आ रहा है – “सर्व के स्नेह, सहयोग से सुखमय संसार”! यह तो लम्बा कार्य है, एक वर्ष से भी अधिक है। तो जैसे कार्य का नाम सुनते ही सभी को उमंग आता है, ऐसे ही कार्य भी उमंग से करेंगे। जैसे सुन्दर नाम सुनकर खुश हो रहे हैं, वैसे कार्य होते सदा खुश हो जायेंगे। यह भी सुनाया ना प्रत्यक्षता का पर्दा हिलने का अथवा पर्दा खुलने का आधार बना है और बनता रहेगा। सर्व के सहयोगी – जैसे कार्य का नाम है, वैसे ही स्वरूप बन सहज कार्य करते रहेंगे तो मेहनत निमित्त मात्र और सफलता पदमगुणा अनुभव करते रहेंगे। ऐसे अनुभव करेंगे जैसे कि करावनहार निमित्त बनाए करा रहा है। मैं कर रहा हूँ – नहीं। इससे सहयोगी नहीं बनेंगे। करावनहार करा रहा है। चलाने वाला कार्य को चला रहा है। जैसे आप सभी को जगदम्बा का स्लोगन याद है – हुक्मी हुक्म चला रहा है। यही स्लोगन सदा स्मृति-स्वरूप में लाते सफलता को प्राप्त होते रहेंगे। बाकी चारों ओर उमंग-उत्साह अच्छा है। जहाँ उमंग-उत्साह है वहाँ सफलता स्वयं समीप आकर गले की माला बन जाती है। यह विशाल कार्य अनेक आत्माओं को सहयोगी बनाए समीप लायेगा क्योंकि प्रत्यक्षता का पर्दा खुलने के बाद इस विशाल स्टेज पर हर वर्ग वाला पार्टधारी स्टेज पर प्रत्यक्ष होना चाहिए। हर वर्ग का अर्थ ही है – विश्व की सर्व आत्माओं के वैराइटी वृक्ष का संगठन रूप। कोई भी वर्ग रह न जाए जो उल्हना दे कि हमें तो सन्देश नहीं मिला इसलिए, नेता से लेकर झुग्गी-झोपड़ी तक वर्ग है। पढ़े हुए सबसे टॉप साइन्सदान और फिर जो अनपढ़ हैं, उन्हों को भी यह ज्ञान की नॉलेज देना, यह भी सेवा है। तो सभी वर्ग अर्थात् विश्व की हर आत्मा को सन्देश पहुँचाना है। कितना बड़ा कार्य है! यह कोई कह नहीं सकता कि हमको तो सेवा का चान्स नहीं मिलता। चाहे कोई बीमार है; तो बीमार, बीमार की सेवा करो; अनपढ़, अनपढ़ों की सेवा करो। जो भी कर सकते, वह चांस है। अच्छा, बोल नहीं सकते तो मन्सा वायुमण्डल से सुख की वृत्ति, सुखमय स्थिति से सुखमय संसार बनाओ। कोई भी बहाना नहीं दे सकता कि मैं नहीं कर सकता, समय नहीं है। उठते-बैठते 10-10 मिनट सेवा करो। अंगुली तो देंगे ना? कहाँ नहीं जा सकते हो, तबियत ठीक नहीं है तो घर बैठे करो लेकिन सहयोगी बनना जरूर है, तब सर्व का सहयोग मिलेगा। अच्छा।

उमंग-उत्साह देख बापदादा भी खुश होते हैं। सभी के मन में लग्न है कि अब प्रत्यक्षता का पर्दा खोल के दिखायें। आरम्भ तो हुआ है ना। तो फिर सहज होता जायेगा। विदेश वाले बच्चों के प्लैन्स भी बापदादा तक पहुँचते रहते हैं। स्वयं भी उमंग में हैं और सर्व का सहयोग भी उमंग-उत्साह से मिलता रहता है। उमंग को उमंग, उत्साह को उत्साह मिलता है। यह भी मिलन हो रहा है। तो खूब धूमधाम से इस कार्य को आगे बढ़ाओ। जो भी उमंग-उत्साह से बनाया है और भी बाप के, सर्व ब्राह्मणों के सहयोग से, शुभ कामनाओं – शुभ भावनाओं से और भी आगे बढ़ता रहेगा। अच्छा।

चारों ओर के सदा याद और सेवा के उमंग-उत्साह वाले श्रेष्ठ बच्चों को, सदा हर कर्म में स्मृति-स्वरूप की अनुभूति करने वाले अनुभवी आत्माओं को, सदा हर कर्म में बाप के सर्व सम्बन्ध का अनुभव करने वाले श्रेष्ठ आत्माओं को, सदा ब्राह्मण जीवन के मजे की जीवन बिताने वाले महान् आत्माओं को बापदादा का अति स्नेह-सम्पन्न यादप्यार स्वीकार हो।

वरदान:- संगमयुग पर एक का सौगुणा प्रत्यक्षफल प्राप्त करने वाले पदमापदम भाग्यशाली भव
संगमयुग ही एक का सौगुणा प्रत्यक्षफल देने वाला है, सिर्फ एक बार संकल्प किया कि मैं बाप का हूँ, मैं मास्टर सर्वशक्तिमान् हूँ तो मायाजीत बनने का, विजयी बनने के नशे का अनुभव होता है। श्रेष्ठ संकल्प करना – यही है बीज और उसका सबसे बड़ा फल है जो स्वयं परमात्मा बाप भी साकार मनुष्य रूप में मिलने आता, इस फल में सब फल आ जाते हैं।
स्लोगन:- सच्चे ब्राह्मण वह हैं जिनकी सूरत और सीरत से प्योरिटी की पर्सनैलिटी वा रॉयल्टी का अनुभव हो।

 

सूचना:- आज मास का तीसरा रविवार अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस है, सायं 6.30 से 7.30 बजे तक सभी भाई बहिनें विशेष योग तपस्या करते हुए, अपने शुभ भावना सम्पन्न संकल्पों द्वारा प्रकृति सहित विश्व की सर्व आत्माओं को शान्ति और शक्ति के वायब्रेशन देने की सेवा करें।

TODAY MURLI 16 JANUARY 2021 DAILY MURLI (English)

16/01/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, follow shrimat at every step. Otherwise, Maya will make you bankrupt. Your eyes deceive you a great deal and you must therefore be very cautious about them.
Question: Which children are made to perform sinful actions by Maya? Which children become obstacles in the yagya?
Answer: Those who have their own arrogance are made to perform many sinful actions by Maya. Those who have arrogance don’t even study the murli. By making them make such mistakes, Maya slaps them and makes them worth not a penny. Those who have gossip and rubbish in their intellects become obstacles in the yagya. Those habits are very bad.

Om shanti. The Father has explained to you spiritual children that, you definitely have to sit here with the thought that that One is the Father, the Teacher and the Supreme Guru. You also realise that by remembering the Father you will become pure and then go to the pure land. The Father has explained that you came down from the pure land. At first, you were satopradhan and you then went through the stages of sato, rajo and tamo. You now understand that you have fallen. You are at the confluence age and you understand from this knowledge that you have stepped away from everything else and that, if you stay in remembrance of Shiv Baba, the land of Shiva is not far away. If you don’t remember Shiv Baba at all, then the land of Shiva is very far away. Punishment then has to be experienced and you become very distant. The Father doesn’t give you children any difficulty. Firstly, He repeatedly tells you that you have to become pure in your thoughts, words and deeds. Those eyes deceive you a great deal. You have to be very careful while moving along. Baba has explained that trance and yoga are completely separate from one another. Yoga means remembrance. You can remember with open eyes. Trance is not called yoga. When someone goes into trance that is neither called knowledge nor yoga. A lot of Maya attacks those who go into trance. Therefore, you have to remain very cautious about that. There has to be very systematic remembrance of the Father. If you perform any actions that are unlawful, Maya will make you fall right down. You must never have any desire for trance. Become completely ignorant of the knowledge of all desires; you mustn’t have any desires at all. The Father fulfils all your desires without your asking for anything, but only if you follow His directions. If you disobey His directions and take the wrong path, it is then possible that, instead of going to heaven, you will fall into hell. It is sung: The alligator ate the elephant. Those who gave knowledge to many and who used to offer bhog are no longer here. Because they disobeyed all the rules, they left and belonged completely to Maya. While becoming deities they became devils. This is why you have to be very cautious on this path; you have to control yourselves. The Father cautions you children. Do not disobey shrimat. It was by following devilish dictates that you went into the descending stage. From being so high, look where you have now reached! You have reached the very bottom! If, even now, you don’t follow shrimat but become careless, your status is destroyed. Baba also explained yesterday: When you do something without shrimat, there is a lot of disservice done. If you do something without shrimat, you continue to fall. From the beginning, Baba has made mothers the instruments because it is the mothers who are given the urn. It is sung: Salutations to the mothers! Baba set up a committee of mothers and handed everything over to them. Daughters are trustworthy. It is generally men who go bankrupt. Therefore, the Father places the urn on the mothers. On this path of knowledge, even mothers go bankrupt. Those who are to become multimillion times fortunate can be defeated by Maya and go bankrupt. Here, both men and women can go bankrupt. Outside, it is just men that go bankrupt. Here, look how so many were defeated and left! This means that they went bankrupt. The Father sits here and explains that the people of Bharat have become completely bankrupt. Maya is so powerful! They don’t understand what they were and from where they have completely fallen down. Here, too, while climbing up, they forget shrimat and begin to follow their own dictates and thereby go bankrupt. Therefore, what would their condition be? Outside, they go bankrupt and then, after five to seven years, they become active again. Here, they go bankrupt for 84 births and cannot claim a high status; they continue to go bankrupt. So many maharathis used to uplift so many, but they themselves are no longer here today; they went bankrupt. Here, the status is very high. Nevertheless, if you are not cautious, you can fall right down from the very top. Maya completely swallows you. You children have to be very cautious. There is nothing to be gained by setting up committees and following your own dictates. Connect your intellects in yoga with the Father. By doing this, you will become satopradhan. If, after belonging to the Father, you don’t have yoga with the Father but disobey shrimat, you fall down completely. The connection is then broken. If the link is broken, check yourself as to why Maya is troubling you so much. Try to connect with the Father. How else would your battery become charged? The battery becomes discharged when you perform sinful actions. You fall down while ascending. Baba knows that there are many like that. At the beginning, so many came and belonged to Baba. They came into the bhatthi, but where are they today? They fell because they remembered the old world. The Father says: I am now inspiring you to have unlimited disinterest. Don’t attach your heart to this old, impure world. Attach your heart to heaven. This does require effort. If you want to become Lakshmi or Narayan, you do have to make some effort. Let your intellects’ yoga be connected to the one Father. Have disinterest in the old world. It is fine that you forget the old world but what should you remember? The land of peace and the land of happiness. Remember the Father as much as possible while you are walking, sitting and moving around. Remember the heaven of unlimited happiness. This is very easy. When you go in the opposite direction of both of these instructions, your status is destroyed. You have come here to change from an ordinary human into Narayan. You tell everyone that they have to become satopradhan from tamopradhan because this is the return journey. The repetition of the history and geography of the world means that heaven changes into hell and that hell then changes into heaven. This cycle continues to turn. The Father has told you to sit here as spinners of the discus of self-realisation. Stay in remembrance of this. We have been around this cycle so many times. We are spinners of the discus of self-realisation. We are now becoming deities once again. No one in the world knows this secret. Deities are not going to listen to this knowledge; they are already pure. They don’t have such knowledge that they would blow the conch shell. Because they are already pure, there is no need to give them a symbol of this. That symbol is given when both together form the four-armed image. You are not given the symbol either because, today, you are becoming deities but, tomorrow, you fall; Maya makes you fall. The Father makes you into deities and Maya makes you into devils. Maya tests you in many ways. It is only when the Father explains everything that you realise that you really have fallen from your stage. So many poor helpless souls accumulated everything they had in Shiv Baba’s treasure store but, in spite of that, they were sometimes defeated by Maya. Once you belong to Shiv Baba, why do you forget Him? The pilgrimage of remembrance is the main thing in this. It is only by having yoga that you can become pure. Together with knowledge, purity is also needed. You called out: Baba, come and purify us so that we can go to heaven! The pilgrimage of remembrance is for you to become pure and claim a high status. Even those who left will definitely go to the land of Shiva because they have heard some knowledge. Whatever status they may claim, they will definitely come. If they have remembered the Father even once, they will go to heaven but they won’t receive a high status. Don’t be happy just hearing the name of heaven. After you have failed, you mustn’t be happy with a status worth just a few pennies. Although that is heaven, there are many different levels of status. You would have the feeling that you are a servant or a cleaner. At the end, you will have visions of what you are to become. What sins have I performed that I have reached this condition? Why did I not become an empress? By remaining cautious at every step as you move along, you can become multimillionaires. If you are not cautious, you cannot become multimillionaires. Deities are shown in the temples with the symbol of a lotus. You can understand the difference. There is a lot of difference in the status. Even now, look how many different levels of status there are. They have so much splendour. All of that is temporary happiness. The Father says: You all raise your hands for claiming a high status. Therefore, effort definitely has to be made for that. Even some of those who raise their hands are finished off. Then, others ask: Are these ones going to become deities? While making effort they were finished off! It is easy to raise your hand and also easy to explain to many. However, some maharathis also disappear while explaining to others. While benefiting others, they cause themselves a loss. This is why the Father says: Be very cautious. Become introverted and remember the Father. How? Baba is our Father, our Teacher and our Satguru. We are going to our sweet home. You should have all of this knowledge in you. The Father has both knowledge and yoga, and you too should have both of these. You know that Shiv Baba is teaching you. Therefore, that is knowledge as well as remembrance. Knowledge and yoga must both be together. Don’t think that you only have to sit in remembrance of Shiv Baba and forget about knowledge. While the Father is teaching you yoga, does He forget this knowledge? All the knowledge remains in Him. You children have to have this knowledge; you have to study it. Whatever actions I perform, others who see me will do the same. If I don’t study the murli, then neither will others study it. If I go into degradation, others will also do that and I will have become instrumental in making others fall. Many children don’t study the murli and have false ego. Maya soon attacks them. Shrimat is needed at every step. Otherwise, one or another sinful act is performed. Many children make many mistakes and then everything is destroyed. When you make mistakes, Maya slaps you and makes you worth not a penny. A lot of understanding is needed for this. When you become arrogant, Maya makes you perform many sinful actions. When you set up a committee, one or two females should definitely be at the head. Everything can be accomplished with their advice. The urn is given to Lakshmi. It is remembered: When nectar was being distributed, even devils came to drink it. There are those who cause obstacles in the yagya. There are those who create many types of obstacle. Throughout the day, they only have gossip in their intellects. That is very bad. Report to the Father everything that happens. Only the one Father can reform you. You mustn’t take the law into your own hands. Just stay in remembrance of the Father and give everyone His introduction. Only then will you be able to become like them (Lakshmi and Narayan). Maya is very strong. She doesn’t leave anyone alone. Always write your news to the Father. Continue to take directions from Him. You receive directions for everything anyway. You children think that because Baba has explained something about a particular person, He Himself, must be Antaryami (One who knows the inner self of everyone). However, the Father says: No; I teach you knowledge. There is no question of being Antaryami in this. Yes, I do know that all of you are My children. The soul in each one is a child of Mine. It isn’t that the Father is present in each one. People have misunderstood this. The Father says: I know that each one is a soul and is sitting on his throne. These are such easy matters! In spite of that, they forget this and say that God is omnipresent. Due to this one mistake everyone has fallen so much! You insult the One who is making you into the masters of the world. This is why the Father says: Whenever there is extreme irreligiousness in Bharat, I come. The Father has come here. Therefore, you children should churn the ocean of knowledge very well. Make time to churn this knowledge very well. Only then will you be able to benefit yourselves. It is not a question of money in this; no one is going to starve to death. Whatever each of you accumulates with the Father, you accordingly create your fortune. The Father has explained that, after knowledge and devotion, there is disinterest. Disinterest means to forget everything. You should detach yourself: I, this soul, am leaving this body. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Have great control over yourself. Never become careless about following shrimat. Remain very, very cautious. Never break any laws.
  2. Become introverted and link your intellect to the one Father. Have unlimited disinterest in this impure old world. Keep it in your intellect that others will copy whatever actions they see you perform.
Blessing: May you have elevated self-respect and make Maya surrender by remaining stable on your seat of self-respect.
The most elevated self-respect of the confluence age is to stay in the awareness of being a master almighty authority. When a senior officer or a king is seated on his seat of self-respect, others also show him respect. If he is not on his seat, no one would then follow his orders. In the same way, when you also become one who has self-respect and remain seated on your seat of self-respect, Maya will surrender to you.
Slogan: Those who remain stable in the stage of a detached observer and experience the company of the Comforter of Hearts are souls who are absorbed in love.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 16 JANUARY 2021 : AAJ KI MURLI

16-01-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – कदम-कदम श्रीमत पर चलो, नहीं तो माया देवाला निकाल देगी, यह आंखे बहुत धोखा देती हैं, इनकी बहुत-बहुत सम्भाल करो”
प्रश्नः- किन बच्चों से माया बहुत विकर्म कराती है? यज्ञ में विघ्न रूप कौन हैं?
उत्तर:- जिन्हें अपना अंहकार रहता है उनसे माया बहुत विकर्म कराती है। ऐसे मिथ्या अंहकार वाले मुरली भी नहीं पढ़ते। ऐसी गफलत करने से माया थप्पड़ लगाए वर्थ नाट पेनी बना देती है। यज्ञ में विघ्न रूप वो हैं जिनकी बुद्धि में झरमुई झगमुई (परचिंतन) की बातें रहती हैं, यह बहुत खराब आदत है।

ओम् शान्ति। रूहानी बच्चों को बाप ने समझाया हुआ है, यहाँ तुम बच्चों को इस ख्याल से जरूर बैठना होता है – यह बाप भी है, टीचर भी है, सुप्रीम गुरू भी है और यह भी महसूस करते हो कि बाप को याद करते-करते पवित्र बन जाकर पवित्रधाम में पहुँचेंगे। बाप ने समझाया है – पवित्रधाम से ही तुम नीचे उतरे हो। पहले तुम सतोप्रधान थे फिर सतो-रजो-तमो में आये। अभी तुम समझते हो हम नीचे गिरे हुए हैं। भल तुम संगमयुग पर हो परन्तु ज्ञान से तुम यह जानते हो – हमने किनारा कर लिया है। फिर अगर हम शिवबाबा की याद में रहते हैं तो शिवालय दूर नहीं। शिवबाबा को याद ही नहीं करते तो शिवालय बहुत दूर है। सज़ायें खानी पड़ती हैं ना तो बहुत दूर हो जाता है। तो बाप बच्चों को कोई जास्ती तकलीफ नहीं देते हैं। एक तो बार-बार कहते हैं – मन्सा-वाचा-कर्मणा पवित्र बनना है। यह आंखें भी बड़ा धोखा देती हैं। बहुत सम्भाल कर चलना होता है।

बाबा ने समझाया है – ध्यान और योग बिल्कुल अलग है। योग अर्थात् याद। आंखें खुली होते याद कर सकते हो। ध्यान को योग नहीं कहा जाता। ध्यान में जाते हैं तो उनको न ज्ञान, न योग कहा जाता। ध्यान में जाने वालों पर माया भी बहुत वार करती है, इसलिए इसमें बहुत खबरदार रहना होता है। बाप की कायदे अनुसार याद चाहिए। कायदे के विरूद्ध कोई काम किया तो एकदम माया गिरा देगी। ध्यान की तो कभी इच्छा भी नहीं रखनी है, इच्छा मात्रम् अविद्या। तुम्हें कोई भी इच्छा नहीं रखनी है। बाप तुम्हारी सब कामनायें बिगर मांगे पूरी कर देते हैं, अगर बाप की आज्ञा पर चलते हो तो। अगर बाप की आज्ञा का उल्लंघन कर उल्टा रास्ता लिया तो हो सकता है स्वर्ग में जाने के बदले नर्क में गिर जायें। गायन भी है गज को ग्राह ने खाया। बहुतों को ज्ञान देने वाले, भोग लगाने वाले आज हैं नहीं क्योंकि कायदे का उल्लंघन करते हैं तो पूरे मायावी बन जाते हैं। डीटी बनते-बनते डेविल बन जाते हैं इसलिए इस मार्ग में खबरदारी बहुत चाहिए। अपने ऊपर कन्ट्रोल रखना होता है। बाप तो बच्चों को सावधान करते हैं। श्रीमत का उल्लंघन नहीं करना है। आसुरी मत पर चलने से ही तुम्हारी उतरती कला हुई है। कहाँ से एकदम कहाँ पहुँच गये हैं। एकदम नीचे पहुँच गये हैं। अब भी श्रीमत पर न चले, बेपरवाह बने तो पद भ्रष्ट बन जायेंगे। बाबा ने कल भी समझाया जो कुछ श्रीमत के आधार बिगर करते हैं तो बहुत डिससर्विस करते हैं। बिगर श्रीमत करेंगे तो गिरते ही जायेंगे। बाबा ने शुरू से माताओं को निमित्त रखा है क्योंकि कलष भी माताओं को मिलता है। वन्दे मातरम् गाया हुआ है। बाबा ने भी माताओं की एक कमेटी बनाई। उन्हों के हवाले सब कुछ कर दिया। बच्चियां ट्रस्टवर्दी (विश्वासपात्र) होती हैं। पुरुष अक्सर करके देवाला मारते हैं। तो बाप भी कलष माताओं पर रखते हैं। इस ज्ञान मार्ग में मातायें भी देवाला मार सकती हैं। पद्मापद्म भाग्यशाली जो बनने वाले हैं, वह भी माया से हार खाए देवाला मार सकते हैं। इसमें स्त्री-पुरुष दोनों देवाला मार सकते हैं। उसमें सिर्फ पुरुष देवाला मारते हैं। यहाँ तो देखो कितने हार खाकर चले गये, गोया देवाला मार दिया ना। बाप बैठ समझाते हैं – भारतवासियों ने पूरा देवाला मारा है। माया कितनी जबरदस्त है। समझ नहीं सकते हैं हम क्या थे? कहाँ से एकदम नीचे आकर गिरे हैं! यहाँ भी ऊंच चढ़ते-चढ़ते फिर श्रीमत को भूल अपनी मत पर चलते हैं तो देवाला मार देते। फिर बताओ उनका क्या हाल होगा। वह तो देवाला मारते हैं फिर 5-7 वर्ष बाद खड़े हो जाते हैं। यह तो 84 जन्मों के लिए देवाला मार देते हैं। फिर ऊंच पद पा न सकें, देवाला मारते ही रहते हैं। कितने महारथी बहुतों को उठाते थे, आज हैं नहीं। देवाले में हैं। यहाँ ऊंच पद तो बहुत है, परन्तु फिर खबरदार नहीं रहेंगे तो ऊपर से एकदम नीचे गिर पड़ेंगे। माया हप कर लेती है। बच्चों को बहुत खबरदार होना है। अपनी मत पर कमेटियां आदि बनाना, उसमें कुछ रखा नहीं है। बाप से बुद्धियोग रखो – जिससे ही सतोप्रधान बनना है। बाप का बनकर और फिर बाप से योग नहीं लगाते, श्रीमत का उल्लंघन करते हैं तो एकदम गिर पड़ते हैं। कनेक्शन ही टूट पड़ता है। लिंक टूट पड़ता है। लिंक टूट जाए तो चेक करना चाहिए कि माया हमको इतना क्यों तंग करती है। कोशिश कर बाप के साथ लिंक जोड़नी चाहिए। नहीं तो बैटरी चार्ज कैसे होगी। विकर्म करने से बैटरी डिस्चार्ज हो जाती है। ऊंच चढ़ते-चढ़ते गिर पड़ते हैं। जानते हो ऐसे कई हैं। शुरू में कितने ढेर आकर बाबा के बने। भट्ठी में आये फिर आज कहाँ हैं? गिर पड़े क्योंकि पुरानी दुनिया याद आई। अभी बाप कहते हैं हम तुमको बेहद का वैराग्य दिला रहा हूँ। इस पुरानी पतित दुनिया से दिल नहीं लगानी है। दिल लगाओ स्वर्ग से, मेहनत है। अगर यह लक्ष्मी-नारायण बनना चाहते हो तो मेहनत करनी पड़े। बुद्धियोग एक बाप के साथ होना चाहिए। पुरानी दुनिया से वैराग्य। अच्छा, पुरानी दुनिया को भूल जाएं यह तो ठीक है। भला याद किसको करें? शान्तिधाम-सुखधाम को। जितना हो सके उठते-बैठते, चलते-फिरते बाप को याद करो। बेहद सुख के स्वर्ग को याद करो। यह तो बिल्कुल सहज है। अगर इन दोनों आशाओं से उल्टा चलते हैं तो पद भ्रष्ट हो पड़ते हैं। तुम यहाँ आये ही हो नर से नारायण बनने के लिए। सबको कहते हो तमोप्रधान से सतोप्रधान बनना है क्योंकि रिटर्न जर्नी होती है। वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी रिपीट माना नर्क से स्वर्ग, फिर स्वर्ग से नर्क। यह चक्र फिरता ही रहता है। बाप ने कहा है यहाँ स्वदर्शन चक्रधारी होकर बैठो। इसी याद में रहो, हमने कितना बारी यह चक्र लगाया है। हम स्वदर्शन चक्रधारी हैं, अभी फिर से देवता बनते हैं। दुनिया में कोई भी इस राज़ को नहीं जानते हैं। यह ज्ञान देवताओं को तो सुनाना नहीं है। वह तो हैं ही पवित्र। उनमें ज्ञान है नहीं जो शंख बजायें। पवित्र भी हैं इसलिए उनको निशानी देने की दरकार ही नहीं। निशानी तब होती है जब दोनों इकट्ठे चतुर्भुज होते हैं। तुमको भी नहीं देते हैं क्योंकि तुम आज देवता कल फिर नीचे गिर जाते हो। माया गिराती है ना। बाप डीटी बनाते हैं, माया फिर डेविल बना देती है। अनेक प्रकार से माया परीक्षा लेती है। बाप जब समझाते हैं तब पता पड़ता है। सचमुच हमारी अवस्था गिरी हुई है। कितने बिचारे अपना सब कुछ शिवबाबा के खजाने में जमा कराए फिर भी कभी माया से हार खा लेते हैं। शिवबाबा के बन गये फिर भूल क्यों जाते, इसमें योग की यात्रा मुख्य है। योग से ही पवित्र बनना है। नॉलेज के साथ-साथ पवित्रता भी चाहिए। तुम बुलाते भी हो बाबा हमको आकर पावन बनाओ, जो हम स्वर्ग में जा सकें। याद की यात्रा है ही पावन बन ऊंच पद पाने के लिए। जो चले जाते हैं फिर भी कुछ न कुछ सुना है तो शिवालय में आयेंगे जरूर। फिर पद भल कैसा भी पायें परन्तु आते हैं जरूर। एक बार भी याद किया तो स्वर्ग में आ जायेंगे, बाकी ऊंच पद नहीं। स्वर्ग का नाम सुन खुश नहीं होना चाहिए। फेल होकर पाई पैसे का पद पा लेना, इसमें खुश नहीं होना चाहिए। भल स्वर्ग है परन्तु उसमें पद तो बहुत हैं ना। फीलिंग तो आती है ना – मैं नौकर हूँ, मेहतर हूँ। पिछाड़ी में तुमको सब साक्षात्कार होगा – हम क्या बनेंगे, हमसे क्या विकर्म हुआ है जो ऐसी हालत हुई है? मैं महारानी क्यों नहीं बनी? कदम-कदम पर खबरदारी से चलने से तुम पद्मपति बन सकते हो। खबरदारी नहीं तो पद्मपति बन नहीं सकेंगे। मन्दिरों में देवताओं को पद्मपति की निशानी दिखाते हैं। फ़र्क तो समझ सकते हैं ना। दर्जे का भी बहुत फ़र्क है। अभी भी देखो दर्जे कितने हैं। कितना ठाठ रहता है। है तो अल्पकाल का सुख। तो अब बाप कहते हैं यह ऊंच पद पाना है, जिसके लिए सब हाथ उठाते हैं तो इतना पुरुषार्थ करना है। हाथ उठाने वाले भी खुद खत्म हो जाते हैं। कहेंगे यह देवता बनने वाले थे। पुरुषार्थ करते खत्म हो गये। हाथ उठाना सहज है। बहुतों को समझाना भी सहज है, महारथी समझाते भी गायब हो जाते हैं। औरों का कल्याण कर खुद अपना अकल्याण कर बैठते हैं, इसलिए बाप समझाते हैं खबरदार रहो। अन्तर्मुख हो बाप को याद करना है। किस प्रकार से? बाबा हमारा बाप भी है, टीचर भी है, सतगुरू भी है, हम जा रहे हैं – अपने स्वीट होम में। यह सब ज्ञान अन्दर में होना चाहिए। बाप में ज्ञान और योग दोनों हैं। तुम्हारे में भी होना चाहिए। जानते हैं शिवबाबा पढ़ाते हैं तो ज्ञान भी हुआ, याद भी हुई। ज्ञान और योग दोनों इकट्ठा चलता है। ऐसे नहीं, योग में बैठे शिवबाबा को याद करते रहे, नॉलेज भूल जाए। बाप योग सिखाते हैं तो नॉलेज भूल जाती है क्या! सारी नॉलेज उनमें रहती है। तुम बच्चों में यह नॉलेज होनी चाहिए। पढ़ना चाहिए। जैसे कर्म मैं करुँगा, मुझे देख और भी करेंगे। मैं मुरली नहीं पढूँगा तो और भी नहीं पढ़ेंगे। मैं जैसे दुर्गति को पाऊंगा तो और भी दुर्गति को पा लेंगे। मैं निमित्त बन जाऊंगा औरों को गिराने के। कई बच्चे मुरली नहीं पढ़ते हैं, मिथ्या अहंकार आ जाता है। माया झट वार कर लेती है। कदम-कदम पर श्रीमत चाहिए। नहीं तो कुछ न कुछ विकर्म बन जाते हैं। बहुत बच्चे भूलें करते हैं फिर सत्यानाश हो जाती है। गफलत होने से माया थप्पड़ लगाए वर्थ नाट ए पेनी बना देती है, इसमें बड़ी समझ चाहिए। अहंकार आने से माया बहुत विकर्म कराती है। जब कोई कमेटी आदि बनाते हो तो उसमें हेड एक-दो फीमेल जरूर होनी चाहिए, जिनकी राय पर काम हो। कलष तो लक्ष्मी पर रखा जाता है ना। गायन भी है अमृत पिलाती थी तो असुर भी बैठ पीते थे। फिर कहाँ यज्ञ में विघ्न डालते हैं, अनेक प्रकार के विघ्न डालने वाले हैं। सारा दिन बुद्धि में झरमुई झगमुई की बातें रहती हैं, यह बहुत खराब है। कोई भी बात है तो बाप को रिपोर्ट करो। सुधारने वाला तो एक ही बाप है। तुम अपने हाथ में लॉ नहीं उठाओ। तुम बाप की याद में रहो। सबको बाप का परिचय दो तब ऐसा बन सकेंगे। माया बहुत कड़ी है, किसको भी नहीं छोड़ती है। सदैव बाप को समाचार लिखना चाहिए। डायरेक्शन लेते रहना चाहिए। यूँ तो हर एक डायरेक्शन मिलते ही रहते हैं। बच्चे समझते हैं बाबा ने तो आपेही इस बात पर समझा दिया तो अन्तर्यामी है। बाप कहते – नहीं, मैं तो नॉलेज पढ़ाता हूँ। इसमें अन्तर्यामी की तो बात ही नहीं। हाँ, यह जानते हैं कि यह सब मेरे बच्चे हैं। हर एक के अन्दर की आत्मा मेरे बच्चे हैं। बाकी ऐसे नहीं बाप सबमें विराजमान है। मनुष्य उल्टा समझ लेते हैं।

बाप कहते हैं मैं जानता हूँ सबके तख्त पर आत्मा विराजमान है। यह तो कितनी सहज बात है। फिर भी भूल कर परमात्मा सर्वव्यापी कह देते हैं। यह है एकज़ भूल, जिस कारण ही इतना नीचे गिरे हैं। विश्व का मालिक बनाने वाले को तुम गाली देते हो इसलिए बाप कहते हैं यदा यदाहि…… बाप यहाँ आते हैं तो बच्चों को अच्छी रीति विचार सागर मंथन करना है। नॉलेज पर बहुत-बहुत मंथन करना चाहिए, टाइम देना चाहिए तब तुम अपना कल्याण कर सकेंगे, इसमें पैसे आदि की भी बात नहीं। भूख तो कोई मर न सके। जितना जो बाप के पास जमा करते हैं, उतना भाग्य बनता है। बाप ने समझाया है ज्ञान और भक्ति के बाद है वैराग्य। वैराग्य माना सब कुछ भूल जाना पड़ता है। अपने को डिटैच कर देना चाहिए, शरीर से हम आत्मा अब जा रही हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपने ऊपर बहुत कन्ट्रोल रखना है। श्रीमत में कभी बेपरवाह नहीं बनना है। बहुत-बहुत खबरदार रहना है, कभी कोई कायदे का उल्लंघन न हो।

2) अन्तर्मुख हो एक बाप से बुद्धि की लिंक जोड़नी है। इस पतित पुरानी दुनिया से बेहद का वैराग्य रखना है। बुद्धि में रहे – जो कर्म मैं करुँगा, मुझे देख सब करेंगे।

वरदान:- स्वमान की सीट पर स्थित रह माया को सरेण्डर कराने वाले श्रेष्ठ स्वमानधारी भव
संगमयुग का सबसे श्रेष्ठ स्वमान है मास्टर सर्वशक्तिमान की स्मृति में रहना। जैसे कोई बड़ा आफीसर वा राजा जब स्वमान की सीट पर स्थित होता है तो दूसरे भी उसे सम्मान देते हैं, अगर स्वयं सीट पर नहीं तो उसका आर्डर कोई नहीं मानेंगे, ऐसे आप भी स्वमानधारी बन अपने श्रेष्ठ स्वमान की सीट पर सेट रहो तो माया आपके आगे सरेण्डर हो जायेगी।
स्लोगन:- साक्षीपन की स्थिति में रह दिलाराम के साथ का अनुभव करने वाले ही लवलीन आत्मा हैं।

TODAY MURLI 17 JANUARY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 17 January 2020

17/01/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, this old world has nothing left to offer. This is why you mustn’t let your heart remain attached to it. If you forget to have remembrance of the Father, there will be punishment.
Question: Why do you disobey one of the Father’s main directions? What is that direction?
Answer: The Father’s direction is: Never accept personal service from anyone, because you yourselves are servants. However, because of body consciousness, some of you disobey this direction that the Father gives. Baba says: If you accept that happiness here, your happiness there will be reduced. Many of you children say that you want to be independent but, in fact, all of you depend on the Father.
Song: Let the support of my heart not break.

Om shanti. God Shiva speaks to His saligrams. All human beings know about Shiva and the saligrams; both are incorporeal. You no longer say that God Krishna speaks. There is only the one God, and so, to whom does God Shiva speak? To you spiritual children. Baba has explained that you children must now only have a connection with that Father. Because only Shiv Baba is the Purifier, the Ocean of Knowledge and the One who gives you your inheritance of heaven, He is the One you have to remember. Brahma is His most fortunate chariot. He gives you the inheritance through this chariot. It isn’t Brahma who gives you your inheritance; he too receives an inheritance. Therefore, each of you children has to consider yourself to be a soul and remember the Father. For example, if there is any difficulty with the chariot or, for one reason or another, you don’t receive a murli, the attention of you children goes to Shiv Baba. He is never ill. You children have been given a lot of knowledge which you can explain to others. Some children explain such a great deal at exhibitions. You children have all of this knowledge. The knowledge shown in the pictures is in the intellect of each one of you. Nothing should stop you children. If there is no post or there is a strike, what would you do then? You children have knowledge anyway. You have to explain that the golden age did exist and that it is now the iron age, the old world. In the song too, you sing that this old world has nothing left to offer. You must not let your hearts remain attached to it. Otherwise, you will experience punishment. By having remembrance of the Father you can reduce your punishment. Let it not be that your remembrance of the Father is broken, so that you have to experience punishment and you return to the old world. There are many like this who have left. They do not even remember the Father. Their hearts are still attached to the old world. This present world is very bad. If you set your heart on someone, you will experience a great deal of punishment. You children must listen to this knowledge. You mustn’t listen to the songs of the path of devotion. You are now at the confluence age. It is at this confluence age that you receive knowledge from the Father, the Ocean of Knowledge. No one else in the world knows that only that One is the Ocean of Knowledge. When He gives knowledge to human beings they receive salvation. Only that One is the Bestower of Salvation, and so you have to follow His directions. Maya doesn’t leave anyone alone. It is because you become body conscious that you make one mistake or another. Some of you are semi-influenced by lust and some are influenced by anger. There are many storms in the mind. Because you fall in love with someone, you want to do this or that. You mustn’t let your heart become attached to anyone’s body. The Father says: Consider yourselves to be souls and all consciousness of your body will then finish. Otherwise, you are disobeying the Father’s directions. There is a huge loss when you become body conscious. Therefore, forget everything, including your own bodies. Simply remember the Father and the home. The Father explains to you souls: Whilst acting through your bodies, remember Me so that your sins will be burnt away. This path is very simple. Baba also knows that you continue to make mistakes. However, it shouldn’t be that you continue to be trapped by your mistakes. If you make a mistake, you mustn’t repeat it. Pull your own ears and tell yourself: I won’t make this mistake again. You must make effort. If you repeatedly make mistakes, you should understand that you are going to incur a great loss for yourself. It was because of your mistakes that you reached a state of degradation. What have you now become after coming down such a high ladder? Previously, you didn’t have this knowledge. All of you have now become wise with this knowledge, numberwise, according to the effort you have made. Remain introverted as much as possible. Keep your mouth closed! Those who are wise with knowledge would never attach their hearts to the old world. Their intellects would know that they want to bring about destruction of Ravan’s kingdom. This body is old and it belongs to Ravan’s community. Why should we remember Ravan’s community? We should only remember the one Rama (God). We have to become the ones who remain truly faithful to the Father. The Father says: Continue to remember Me and all your sins will be absolved. You have to remain faithful to the Father. This means being faithful to God. Devotees only remember God and pray: God, come and give us our inheritance of peace and happiness. On the path of devotion, devotees sacrifice themselves. Here, there is no question of sacrificing yourself. We die a living death, that is, we sacrifice ourselves to God. We have to belong to the Father for as long as we live, because we have to claim the inheritance from Him. We have to follow His directions. To sacrifice oneself whilst alive refers, in fact, to this time. On the path of devotion, they commit suicide, etc. Here, there is no question of committing suicide. The Father says: Consider yourselves to be souls and have yoga with the Father. Do not become body conscious. Whether you are sitting or walking, you must make effort to remember the Father. No one has yet passed with one hundred per cent; you all continue to fluctuate. If you are not cautioned about the mistakes you make, how are you going to stop making those mistakes? Maya doesn’t leave anyone alone. Many couples say: Baba, we have been defeated by Maya. We were making effort, but we don’t know what happened. We don’t know how we made such a serious mistake. They understand that, because of this mistake, their names will be defamed in the Brahmin clan. They are so strongly attacked by Maya that they aren’t even able to understand it. When they become body conscious, it is as though they also become senseless. When there is senselessness, there is also defamation. Their inheritance is then reduced. There are many who make such mistakes. Maya slaps them so hard that they are defeated. Then, in their anger, they slap others or hit them with their shoe. Then they repent. Baba says: You now have to make a lot of effort. You have caused yourselves harm and others too. You have lost so much. There are the omens of an eclipse of Rahu. The Father says: If you now donate your vices, you can be rid of those bad omens. Once there are the omens of Rahu, it does take time. It is difficult to climb the ladder once you have come down. When people have the habit of drinking alcohol, they find it very difficult to give it up. The biggest mistake some of you make is to dirty your face. You then continue to remember the bodies. Then, when you have children, you keep remembering them. What knowledge would you then be able to give to others? No one would listen to you. We are now making effort to remember the One alone and forget everyone else. You need to be very cautious about this. Maya is very powerful. Throughout the day, let your only concern be about remembering Shiv Baba. The play is now coming to an end and we will have to return home. Our bodies are going to be destroyed. To the extent that you remember the Father, accordingly you won’t remember anyone else and your body consciousness will be removed. This destination is very high. None of you must allow your heart to become attached to anyone but the one Father. Otherwise, that person will keep appearing in front of you. That one would definitely take revenge on you. Our destination is very high. It is easy to speak about this. Out of hundreds of thousands, only a very few become the beads of the rosary. Some win a scholarship. Those who make effort well will definitely win a scholarship. Become a detached observer and see how much service you do. Many of you children want to be released from having to work and to become engaged in this spiritual service, but Baba looks at each one’s circumstances. If you are alone and you have no relatives, that’s all right. Nevertheless, He says: Continue with your other business as well as this service. In your business you have to meet many people whom you can serve. You children have received a great deal of knowledge. The Father inspires a lot of service to be carried out through you children. He even enters some children and does service. He has to do service. How can those who have a responsibility sleep? Shiv Baba is the constantly ignited Lamp. The Father says: I do service day and night. If the body gets tired what can the soul do? The body can’t do enough work. The Father is tireless. He is the ignited Lamp who awakens everyone in the world. His part is wonderful. Only a few of you children know Him. The Father is the Death of all Deaths. If you don’t obey Him, you will experience punishment from Dharamraj. One of the Father’s principal directions is: Do not accept personal service from anyone. However, because you become body conscious, you disobey the Father’s directions. Baba says: You yourselves are servants. If you accept that happiness here, your happiness there would be reduced. If you form that habit, you would not be able to do without servants. Many say: I want to remain independent, but the Father says: It is good to remain dependent. All of you have to depend on the Father. It is by trying to be independent that you fall. All of you depend on Shiv Baba. The whole world depends on Him, and this is why they call out: O Purifier, come! You receive peace and happiness from Him but people don’t understand. You have to pass along the path of devotion. The Father comes when the night is ending. There cannot be the difference of even a second in when He comes. The Father says: I know this drama. No one else knows the beginning, the middle or the end of this drama. In the golden age, this knowledge will have disappeared. You now know the Creator and the beginning, middle and end of creation; this is called knowledge. Everything else is devotion. The Father is said to be knowledge-full. He is now giving us this knowledge. You children should have very good intoxication. However, you do also understand that a kingdom is being established. Some just become ordinary subjects or maids and servants. They don’t understand even a little knowledge! It is a wonder. This knowledge is very easy to understand. The cycle of our 84 births is now coming to an end. You will soon have to return to your home. We are the principal actors in this drama and so we know the whole drama. We play the hero and heroine parts throughout the whole drama. This is so easy, but if it’s not in your fortune, what effort would you make? This continues to happen in this study. Some of you still fail. This is such a large school. A kingdom has to be established. To the extent that each one of you children studies, each of you can understand for yourself what status you will claim. There are so many of you. Not all of you can become heirs. It is very difficult to become pure. The Father makes you understand everything so easily. This play is now coming to an end. You have to become completely pure, by having remembrance of the Father and you will then become the masters of the completely pure new world. Stay in remembrance for as long as possible. If this isn’t in your fortune, then, instead of remembering the Father, you remember others. By attaching your heart to someone else, you will have to cry a great deal. The Father says: Do not allow your heart to remain attached to this old world. This world has to be destroyed. No one else knows this. They think that the iron age has to continue for a lot longer. They are in a deep sleep. The service you do at exhibitions is a fast way to create subjects. Some kings and queens will also emerge. There are many who are very keen to do service. Some are rich and some are poor. You have to make others similar to yourselves. You will also receive benefit from that. You have to become sticks for the blind. Simply tell them to remember the Father and the inheritance. Destruction is standing ahead of you. Only when they see that the time of destruction is very close will they listen to what you tell them. Your service will increase and they will think: This is right. You continue to tell others that destruction has to take place. The service you do at exhibitions and fairs will also increase. You have to make effort to find a good hall. Tell them that you are prepared to pay rent for it. Tell them: Your name will be glorified even more. There are many people who have such halls. By making effort, you can receive three square feet of land. Until then, continue to hold small exhibitions. When you celebrate Shiv Jayanti, the sound will spread. Write: The day of Shiv Jayanti should be a public holiday. In fact, only that One’s birthday should be celebrated. He is the Purifier. The true stamp is that of the Trimurti. It says: Victory through Truth. This is the time of your gaining victory. You need someone good who can explain these things to others. The main ones at the centres need to pay attention to everyone. You can create your own stamp: This is Trimurti Shiv Jayanti. People will not understand anything if you simply say “Shiv Jayanti”. It is you children who have to do all the work. When you benefit many, you will also receive such a lift. You will receive a great lift from the service you do. There can be a lot of service accomplished at exhibitions. Subjects do have to be created. Baba continues to see which children pay attention to service. They are the ones who climb on to Baba’s heart throne. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. If you make a mistake, pull your own ears there and then, so that you don’t make the same mistake again. Never become body conscious. Become an expert in this knowledge and remain introverted.
  2. Remain truly faithful to the one Father. Sacrifice yourself to Him for as long as you live. Don’t allow your heart to become attached to anyone else. Don’t do anything senseless.
Blessing: May you be a master creator and with your broad and unlimited intellect and your big heart give the experience of belonging.
The first creation of a master creator is his body. Those who achieve complete success in being masters of their bodies give everyone the experience of belonging through their love and connection. By having a connection with such a soul, souls will experience one speciality or other of happiness, of a bestower, peace, love, bliss, co-operation, courage, zeal and enthusiasm. Only such souls are said to be those with broad and unlimited intellects and big hearts.
Slogan: Constantly continue to experience the flying stage with the wings of zeal and enthusiasm.

*** Om Shanti ***

Special homework to experience the avyakt stage in this avyakt month.

Before you perform a deed, speak a words or have a thoughts, first of all check whether they are the same as those of Father Brahma. The speciality of Father Brahma was: Whatever he thought, whatever he said, he did that. Follow the father in the same way. With the awareness of your own self-respect, with the power of the Father’s companionship and with the power of faith and determination, stay in your elevated position and finish all opposition, you will then easily experience the avyakt stage.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 17 JANUARY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 17 January 2020

17-01-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – इस पुरानी दुनिया में कोई भी सार नहीं है, इसलिए तुम्हें इससे दिल नहीं लगानी है, बाप की याद टूटी तो सजा खानी पड़ेगी”
प्रश्नः- बाप का मुख्य डायरेक्शन क्या है? उसका उल्लंघन क्यों होता है?
उत्तर:- बाप का डायरेक्शन है किसी से सेवा मत लो क्योंकि तुम खुद सर्वेन्ट हो। परन्तु देह-अभिमान के कारण बाप के इस डायरेक्शन का उल्लंघन करते हैं। बाबा कहते तुम यहाँ सुख लेंगे तो वहाँ का सुख कम हो जायेगा। कई बच्चे कहते हैं हम तो इन्डिपेन्डेन्ट रहेंगे परन्तु तुम सब बाप पर डिपेन्ड करते हो।
गीत:- दिल का सहारा टूट न जाए……

ओम् शान्ति। शिव भगवानुवाच अपने सालिग्रामों प्रति। शिव और सालिग्राम को तो सब मनुष्य जानते हैं। दोनों निराकार हैं। अब कृष्ण भगवानुवाच कह नहीं सकते। भगवान एक ही होता है। तो शिव भगवानुवाच किसके प्रति? रूहानी बच्चों प्रति। बाबा ने समझाया है बच्चों का अब कनेक्शन है ही बाप से क्योंकि पतित-पावन ज्ञान का सागर, स्वर्ग का वर्सा देने वाला तो शिवबाबा ही ठहरा। याद भी उनको करना है। ब्रह्मा है उनका भाग्यशाली रथ। रथ द्वारा ही बाप वर्सा देते हैं। ब्रह्मा वर्सा देने वाला नहीं है, वह तो लेने वाला है। तो बच्चों को अपने को आत्मा समझ बाप को याद करना है। मिसला समझो रथ को कोई तकलीफ होती है वा कारणे-अकारणे बच्चों को मुरली नहीं मिलती है तो बच्चों का सारा अटेन्शन जाता है शिवबाबा तरफ। वह तो कभी बीमार पड़ नहीं सकते। बच्चों को इतना ज्ञान मिला है वह भी समझा सकते हैं। प्रदर्शनी में बच्चे कितना समझाते हैं। ज्ञान तो बच्चों में है ना। हर एक की बुद्धि में चित्रों का ज्ञान भरा हुआ है। बच्चों को कोई अटक नहीं रह सकती। समझो पोस्ट का आना-जाना बंद हो जाता है, स्ट्राइक हो जाती है फिर क्या करेंगे? ज्ञान तो बच्चों में है। समझाना है सतयुग था, अब कलियुग पुरानी दुनिया है। गीत में भी कहते हैं पुरानी दुनिया में कोई सार नहीं है, इनसे दिल नहीं लगानी है। नहीं तो सज़ा मिल जायेगी। बाप की याद से सजायें कटती जायेंगी। ऐसा न हो बाप की याद टूट जाये फिर सजा खानी पड़े और पुरानी दुनिया में चले जायें। ऐसे तो ढेर गये हैं, जिनको बाप याद भी नहीं है। पुरानी दुनिया से दिल लग गई, जमाना बहुत खराब है। कोई से दिल लगाई तो सज़ा बहुत मिलेगी। बच्चों को ज्ञान सुनना है। भक्ति मार्ग के गीत भी नहीं सुनने हैं। अभी तुम हो संगम पर। ज्ञान सागर बाप द्वारा तुमको संगम पर ही ज्ञान मिलता है। दुनिया में यह किसको पता नहीं है कि ज्ञान सागर एक ही है। वह जब ज्ञान देते हैं तब मनुष्यों की सद्गति होती है। सद्गति दाता एक ही है फिर उनकी मत पर चलना है। माया छोड़ती कोई को भी नहीं है। देह-अभिमान के बाद ही कोई न कोई भूल होती है। कोई सेमी काम वश हो जाते हैं, कोई क्रोध वश। मन्सा में तूफान बहुत आते हैं – प्यार करें, ये करें.. । कोई के शरीर से दिल नहीं लगानी है। बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझो तो शरीर का भान न रहे। नहीं तो बाप की आज्ञा का उल्लंघन हो जाता है। देह-अहंकार से नुकसान बहुत होता है इसलिए देह सहित सब-कुछ भूल जाना है। सिर्फ बाप को और घर को याद करना है। आत्माओं को बाप समझाते हैं, शरीर से काम करते मुझे याद करो तो विकर्म भस्म हो जायेंगे। रास्ता तो बहुत सहज है। यह भी समझते हैं तुमसे भूलें होती रहती हैं। परन्तु ऐसा न हो-भूलों में फँसते ही जाओ। एक बारी भूल हुई फिर वह भूल नहीं करनी चाहिए। अपना कान पकड़ना चाहिए, फिर यह भूल नहीं होगी। पुरुषार्थ करना चाहिए। अगर घड़ी-घड़ी भूल होती है तो समझना चाहिए हमारा बहुत नुकसान होगा। भूल करते-करते तो दुर्गति को पाया है ना। कितनी बड़ी सीढ़ी उतरकर क्या बने हैं! आगे तो यह ज्ञान नहीं था। अभी नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार ज्ञान में सब प्रवीण हो गये हैं। जितना हो सके अन्तुर्मखी भी रहना है, मुख से कुछ कहना नहीं है। जो ज्ञान में प्रवीण बच्चे हैं, वह कभी पुरानी दुनिया से दिल नहीं लगायेंगे। उनकी बुद्धि मे रहेगा हम तो रावण राज्य का विनाश करना चाहते हैं। यह शरीर भी पुराना रावण सम्प्रदाय का है तो हम रावण सम्प्रदाय को क्यों याद करें? एक राम को याद करें। सच्चे पिताव्रता बने ना।

बाप कहते हैं मुझे याद करते रहो तो तुम्हारे विकर्म विनाश हो जायेंगे। पिताव्रता अथवा भगवान व्रता बनना चाहिए। भक्त भगवान को ही याद करते हैं कि हे भगवान आकर हमें सुख-शान्ति का वर्सा दो। भक्तिमार्ग में तो कुर्बान जाते हैं, बलि चढ़ते हैं। यहाँ बलि चढ़ने की बात तो है नहीं। हम तो जीते जी मरते हैं गोया बलि चढ़ते हैं। यह है जीते जी बाप का बनना क्योंकि उनसे वर्सा लेना है। उनकी मत पर चलना है। जीते जी बलि चढ़ना, वारी जाना वास्तव में अभी की बात है। भक्ति मार्ग में वह फिर कितना जीवघात आदि करते हैं। यहाँ जीवघात की बात नहीं। बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझो, बाप से योग लगाओ, देह-अभिमान में नहीं आओ। उठते-बैठते बाप को याद करने का पुरुषार्थ करना है। 100 परसेन्ट पास तो कोई हुआ नहीं है। नीचे-ऊपर होते रहते हैं। भूलें होती हैं, उस पर सावधानी नहीं मिलेगी तो भूलें छोड़ेंगे कैसे? माया किसको भी छोड़ती नहीं है। कहते हैं बाबा हम माया से हार जाते हैं, पुरुषार्थ करते भी हैं फिर पता नहीं क्या होता है। हमसे इतनी कड़ी भूलें पता नहीं कैसे हो जाती हैं। समझते भी हैं ब्राह्मण कुल में इससे हमारा नाम बदनाम होता है। फिर भी माया का ऐसा वार होता है जो समझ में नहीं आता। देह-अभिमान में आने से जैसे बेसमझ बन जाते हैं। बेसमझी के काम होते हैं तो ग्लानि भी होती, वर्सा भी कम हो जाता। ऐसे बहुत भूलें करते हैं। माया ऐसा जोर से थप्पड़ लगा देती है जो खुद तो हार खाते हैं और फिर गुस्से में आकर किसको थप्पड़ वा जूता आदि मारने लग पड़ते हैं फिर पश्चाताप् भी करते हैं। बाबा कहते हैं कि अब तो बहुत मेहनत करनी पड़े। अपना भी नुकसान किया तो दूसरे का भी नुकसान किया, कितना घाटा हो गया। राहू का ग्रहण बैठ गया। अब बाप कहते हैं दे दान तो छूटे ग्रहण। राहू का ग्रहण बैठता है तो फिर वह टाइम लेता है। सीढ़ी चढ़कर फिर उतरना मुश्किल होता है। मनुष्य को शराब की आदत पड़ती है तो फिर वह छोड़ने में कितनी मुश्किलात होती है। सबसे बड़ी भूल है – काला मुंह करना। घड़ी-घड़ी शरीर याद आता है। फिर बच्चे आदि होते हैं तो उनकी ही याद बनी रहती है। वह फिर दूसरों को ज्ञान क्या देंगे। उनका कोई सुनेंगे भी नहीं। हम तो अभी सबको भूलने की कोशिश कर एक को याद करते हैं। इसमें सम्भाल बहुत करनी पड़ती है। माया बड़ी तीखी है। सारा दिन शिवबाबा को याद करने का ही ख्याल रहना चाहिए। अब नाटक पूरा होता है, हमको जाना है। यह शरीर भी खत्म हो जाना है। जितना बाप को याद करेंगे तो देह-अभिमान टूटता जायेगा और कोई की भी याद नहीं होगी। कितनी बड़ी मंजिल है, सिवाए एक बाप के और कोई के साथ दिल नहीं लगानी है। नहीं तो जरूर वह सामने आयेंगे। वैर जरूर लेंगे। बहुत ऊंची मंजिल है। कहना तो बड़ा सहज है, लाखों में कोई एक दाना निकलता है। कोई स्कॉलरशिप भी लेते हैं ना। जो अच्छी मेहनत करेंगे, जरूर स्कॉलरशिप लेंगे। साक्षी हो देखना है, कैसे सर्विस करता हूँ? बहुत बच्चे चाहते हैं जिस्मानी सर्विस छोड़ इसमें लग जावें। परन्तु बाबा सरकमस्टांश भी देखते हैं। अकेला है, कोई सम्बन्धी नहीं हैं तो हर्जा नहीं। फिर भी कहते हैं नौकरी भी करो और यह सेवा भी करो। नौकरी में भी बहुतों के साथ मुलाकात होगी। तुम बच्चों को ज्ञान तो बहुत मिला हुआ है। बच्चों द्वारा भी बाप बहुत सर्विस कराते रहते हैं। कोई में प्रवेश कर सर्विस करते हैं। सर्विस तो करनी ही है। जिनके माथे मामला वो कैसे नींद करें! शिवबाबा तो है ही जागती ज्योत। बाप कहते हैं मैं तो दिन-रात सर्विस करता हूँ, थकता शरीर है। फिर आत्मा भी क्या करे, शरीर काम नहीं देता है। बाप तो अथक है ना। वह है जागती ज्योत, सारी दुनिया को जगाते हैं। उनका पार्ट ही वन्डरफुल है, जिसको तुम बच्चों में भी थोड़े जानते हैं। कालों का काल है बाप। उनकी आज्ञा नहीं मानेंगे तो धर्मराज से डन्डा खायेंगे। बाप का मुख्य डायरेक्शन है किसी से सेवा मत लो। परन्तु देह-अभिमान में आकर बाप की आज्ञा का उल्लंघन करते हैं। बाबा कहते तुम खुद सर्वेन्ट हो। यहाँ सुख लेंगे तो वहाँ सुख कम हो जायेगा। आदत पड़ जाती है तो सर्वेन्ट बिगर रह नहीं सकते हैं। कई कहते हैं हम तो इन्डिपेन्डेट रहेंगे परन्तु बाप कहते हैं डिपेन्ड रहना अच्छा है। तुम सब बाप पर डिपेन्ड करते हो। इन्डिपेन्डेन्ट बनने से गिर पड़ते हैं। तुम सब डिपेन्ड करते हो शिवबाबा पर। सारी दुनिया डिपेन्ड करती है, तब तो कहते हैं हे पतित-पावन आओ। उनसे ही सुख-शान्ति मिलती है, परन्तु समझते नहीं हैं। यह भक्ति मार्ग का समय भी पास करना ही है, जब रात पूरी होती है तब बाप आते हैं। एक सेकण्ड का भी फ़र्क नहीं पड़ सकता। बाप कहते हैं मैं इस ड्रामा को जानने वाला हूँ। ड्रामा के आदि, मध्य, अन्त को और कोई भी नहीं जानते। सतयुग से लेकर यह ज्ञान प्राय:लोप है। अभी तुम रचयिता और रचना के आदि, मध्य, अन्त को जानते हो, इसको ही ज्ञान कहा जाता है, बाकी सब है भक्ति। बाप को नॉलेजफुल कहते हैं। हमको वह नॉलेज मिल रही है। बच्चों को नशा भी अच्छा होना चाहिए। परन्तु यह भी समझते हैं कि राजधानी स्थापन होती है। कोई तो प्रजा में भी साधारण नौकर-चाकर बनते हैं। ज़रा भी ज्ञान समझ में नहीं आता। वन्डर है ना! ज्ञान तो बड़ा सहज है। 84 जन्मों का चक्र अब पूरा हुआ है। अब जाना है अपने घर। हम ड्रामा के मुख्य एक्टर्स हैं। सारे ड्रामा को जान गये हैं। सारे ड्रामा में हीरो-हीरोइन एक्टर हम हैं। कितना सहज है। परन्तु तकदीर में नहीं है तो तदबीर भी क्या करें! पढ़ाई में ऐसा होता है। कोई नापास हो जाते हैं, कितना बड़ा स्कूल है। राजधानी स्थापन होनी है। अब जितना जो पढ़ेंगे, बच्चे जान सकते हैं हम क्या पद पायेंगे? ढेर के ढेर हैं, सब वारिस तो नहीं बनेंगे। पवित्र बनना बड़ा मुश्किल है। बाप कितना सहज समझाते हैं, अब नाटक पूरा होता है। बाप की याद से सतोप्रधान बन, सतोप्रधान दुनिया का मालिक बनना है। जितना हो सके याद में रहना है। परन्तु तकदीर में नहीं है तो फिर बाप के बदले और-और को याद करते हैं। दिल लगाने से फिर रोना भी बहुत पड़ता है। बाप कहते हैं इस पुरानी दुनिया से दिल नहीं लगानी है। यह तो खत्म होनी है। यह और कोई को पता नहीं है। वह तो समझते हैं कलियुग अभी बहुत समय चलना है। घोर नींद में सोये पड़े हैं। तुम्हारी यह प्रदर्शनी प्रजा बनाने के लिए विहंग मार्ग की सर्विस का साधन है। राजा-रानी भी कोई निकल पड़ेगा। बहुत हैं जो सर्विस का अच्छा शौक रखते हैं। फिर कोई गरीब, कोई साहूकार हैं। औरों को आपसमान बनाते हैं, उनका भी फायदा तो मिलता है ना। अन्धों की लाठी बनना है, सिर्फ यह बतलाना है कि बाप और वर्से को याद करो, विनाश सामने खड़ा है। जब विनाश का समय नज़दीक देखेंगे तब तुम्हारी बातों को सुनेंगे। तुम्हारी सर्विस भी वृद्धि को पाती जायेगी, समझेंगे बरोबर ठीक है। तुम रड़ियाँ तो मारते रहते हो कि विनाश होना है।

तुम्हारी प्रदर्शनी, मेला सर्विस वृद्धि को पाती रहेगी। कोशिश करनी है कोई अच्छा हाल मिल जाए, किराया देने के लिए तो हम तैयार हैं। बोलो, तुम्हारा और ही नाम बाला होगा। ऐसे बहुतों के पास हाल पड़े होते हैं। पुरुषार्थ करने से 3 पैर पृथ्वी के मिल जायेंगे। जब तक तुम छोटी-छोटी प्रदर्शनी रखो। शिव जयन्ती भी तुम मनायेंगे तो आवाज़ होगा। तुम लिखते भी हो शिव जयन्ती की छुटटी का दिन मुकरर करो। वास्तव में जन्म दिन तो एक का ही मनाना चाहिए। वही पतित-पावन है। स्टैम्प भी वास्तव में असली यह त्रिमूर्ति की है। सत्य मेव जयते…… यह है विजय पाने का समय। समझाने वाला भी अच्छा चाहिए। सभी सेन्टर्स के जो मुख्य हैं उन्हों को अटेन्शन देना पड़े। अपनी स्टैम्प निकाल सकते हैं। यह है त्रिमूर्ति शिव जयन्ती। सिर्फ शिव जयन्ती कहने से समझ नहीं सकेंगे। अब काम तो बच्चों को ही करना है। बहुतों का कल्याण होगा तो कितनी लिफ्ट मिलेगी, सर्विस की लिफ्ट बहुत मिलती है। प्रदर्शनी से बहुत सर्विस हो सकती है। प्रजा तो बनेगी ना। बाबा देखते हैं सर्विस पर किन बच्चों का अटेन्शन रहता है! दिल पर भी वही चढेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अगर एक बार कोई भूल हुई तो उसी समय कान पकड़ना है, दुबारा वह भूल न हो। कभी भी देह अहंकार में नहीं आना है। ज्ञान में प्रवीण बन अन्तर्मुखी रहना है।

2) सच्चा पिताव्रता बनना है, जीते जी बलि चढ़ना है। किसी से भी दिल नहीं लगानी है। बेसमझी का कोई भी काम नहीं करना है।

वरदान:- विशाल बुद्धि विशाल दिल से अपने पन की अनुभूति कराने वाले मास्टर रचयिता भव
मास्टर रचयिता की पहली रचना-यह देह है। जो इस देह के मालिकपन में सम्पूर्ण सफलता प्राप्त कर लेते हैं, वे अपने स्नेह वा सम्पर्क द्वारा सर्व को अपनेपन का अनुभव कराते हैं। उस आत्मा के सम्पर्क से सुख की, दातापन की, शान्ति, प्रेम, आनंद, सहयोग, हिम्मत, उत्साह, उमंग किसी न किसी विशेषता की अनुभूति होती है। उन्हें ही कहा जाता है विशालबुद्धि, विशाल दिल वाले।
स्लोगन:- उमंग-उत्साह के पंखों द्वारा सदा उड़ती कला की अनुभूति करते चलो।

अव्यक्त स्थिति का अनुभव करने के लिए विशेष होमवर्क

कोई भी कर्म करो, बोल बोलो वा संकल्प करो तो पहले चेक करो कि यह ब्रह्मा बाप समान है! ब्रह्मा बाप की विशेषता विशेष यही रही – जो सोचा वो किया, जो कहा वो किया। ऐसे फालो फादर। अपने स्वमान की स्मृति से, बाप के साथ की समर्थी से, दृढ़ता और निश्चय की शक्ति से श्रेष्ठ पोजीशन पर रह आपोजीशन को समाप्त कर दो तो अव्यक्त स्थिति सहज बन जायेगी।

Font Resize