17 February ki murli

TODAY MURLI 17 FEBRUARY 2021 DAILY MURLI (English)

17/02/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you Brahmins become deities. You make Bharat into heaven. Therefore, you should have the intoxication of belonging to the Brahmin caste.
Question: What are the main signs of true Brahmins?
Answer: 1) The anchors of true Brahmins are raised from this old world. It is as though they have left the shore of this old world behind. 2) While doing everything with their hands, true Brahmins keep their intellects in remembrance of the Father, that is, they are karma yogis. 3) A Brahmin means one who is like a lotus flower. 4) A Brahmin means one who constantly makes effort to remain soul conscious. 5) A Brahmin means one who conquers the great enemy of lust.

Om shanti. The spiritual Father explains to the spiritual children. Which children? You Brahmins. Never forget that you are Brahmins who are going to become deities. You also have to remember the different clans. Here, there are only you Brahmins. The unlimited Father is teaching you Brahmins. This Brahma is not teaching you. Shiv Baba is teaching you through Brahma. He only teaches you Brahmins. One cannot become a deity from a shudra without first becoming a Brahmin. You receive your inheritance from Shiv Baba. That Shiv Baba is the Father of all. This Brahma is called the great-great-grandfather. Everyone has a worldly father. Everyone on the path of devotion remembers the Father from beyond this world. You children now understand that this one is the subtle father whom no one knows. Although there is a temple to Brahma, there is also a temple to Prajapita Adi Dev here, whom some people call Mahavir or Dilwala. In fact, it is Shiv Baba, not Prajapita Brahma Adi Dev, who is the true Dilwala (the Conqueror of Hearts). It is only the one Father who makes all souls constantly happy and brings them joy. Only you know this. People of the world don’t know anything; they have degraded intellects. We Brahmins are receiving our inheritance from Shiv Baba. Even you repeatedly forget this. Remembrance is very easy. Sannyasis use the word “yoga”. You simply remember the Father. The word “yoga” is common. This place cannot be called a yoga ashram because it is the Father and children who are sitting here. It is the children’s duty to remember their unlimited Father. We are Brahmins and we are receiving our Grandfather’s inheritance through Brahma. This is why Shiv Baba says: Stay in as much remembrance as possible. You may even keep a picture to help you to remember. We are Brahmins and we are claiming our inheritance from the Father. Do Brahmins ever forget their caste? When you go into the company of shudras, you forget that you are a Brahmin. Brahmins are even more elevated than deities because you Brahmins are knowledge-full. God is called Janijananhar. They don’t know the meaning of that. It isn’t that He sits and sees what is in each one’s heart; no. He has the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world. He is the Seed. He knows the beginning, the middle and the end of the tree. So, you have to remember such a Father a great deal. This one’s soul also remembers that Father. That Father says: Even this Brahma remembers Me, because only then does He claim that status. Only when you remember Me will you also claim a status. At first, you came here bodiless, and you now have to become bodiless again and return home. All others cause you sorrow, why should you remember them? Since you have found Me and I am taking you to the new world. There is no sorrow there. They have divine relationships there. Here, the foremost sorrow is in the relationship of husband and wife because they become vicious. I am now making you worthy of that world where there is not even any mention of vice. The greatest enemy of lust has been remembered, because it is this that causes sorrow from its beginning through the middle to the end. You wouldn’t say of anger that it causes sorrow from its beginning through the middle to the end; no. Lust has to be conquered. It is this that causes sorrow from its beginning through the middle to the end; it makes you impure. The word “impure” relates to the vice of lust. This enemy has to be conquered. You know that you are becoming deities of heaven. You won’t be able to attain anything until you have this faith. The Father explains: You children have to become accurate in your thoughts, words and deeds. This takes effort. No one in the world knows that you are making Bharat into heaven. They will understand this as you make further progress. They want one world, one kingdom, one religion and one language. You can explain that 5000 years before today, there was the golden age where there was one kingdom and one religion and that it was called heaven. No one knows about the kingdom of Rama and the kingdom of Ravan. You change from having 100% degraded intellects to having pure and clean intellects, numberwise, according to your efforts. The Father sits here and teaches you. Simply follow the directions of the Father. The Father says: While living in this old world, remain as pure as a lotus flower. Continue to remember Me! The Father explains to souls. I have come to teach you souls through these organs. You souls listen through your organs. You children have to become soul conscious. This is a dirty old body. You Brahmins are not worthy of worship. You are worthy of praise, whereas deities are worthy of worship. You make the world into pure heaven by following shrimat, and this is why you are praised. You cannot be worshipped. Only you Brahmins, and not deities, are praised. The Father changes you from shudras into Brahmins. They have built temples to Jagadamba and Brahma, but they don’t know who they are. Brahma is the World Father. You wouldn’t call him a deity. Both the souls and the bodies of deities are pure. You souls are now becoming pure. Your bodies are not pure. You are now making Bharat into heaven by following God’s directions. You are also becoming worthy of heaven. You definitely have to become satopradhan. Only you Brahmins are taught by the Father. The tree of Brahmins will continue to grow. Those who become firm Brahmins will then become deities. That is the new tree. Here, there are also storms of Maya. There won’t be any storms in the golden age. Here, even though you want to, Maya doesn’t allow you to stay in remembrance of Baba and become satopradhan from tamo. Everything depends on remembrance. The ancient yoga of Bharat is well known. People from abroad are also keen for someone to go there and teach them ancient yoga. There are two types of yoga. There are hatha yogis and there are Raja Yogis. You are Raja Yogis. This is the ancient Raja Yoga of Bharat which is taught by only the Father. It is just that, instead of My name, they have put Krishna’s name in the Gita. It has made so much difference. After the birthday of Shiva, there is then the birthday of your heaven in which there is the kingdom of Shri Krishna. You understand that when there is the birthday of Shiv Baba, there is also the birthday of the Gita. After that, there is also the birthday of heaven in which all of you will be pure. Establishment of that is taking place as it did in the previous cycle. The Father says: Now remember Me alone! When you don’t remember Him, Maya makes you perform one sinful action or another. When you don’t have remembrance, you are slapped. When you stay in remembrance, you won’t be slapped. Boxing takes place. You know that it isn’t a human being who is your enemy. It is Ravan that is your enemy. The Father says: To get married at this time means to ruin yourself. Here, they continue to ruin one another, (make one another impure). The Father from beyond has now issued an ordinance: Children, lust is the greatest enemy. Conquer it and make a promise for purity! No one should become impure. It was through this vice that you became impure for birth after birth. This is why it is said that lust is the greatest enemy. All the sages and holy men call out: O Purifier, come! No one is impure in the golden age. The Father comes and grants everyone salvation with knowledge. At present, everyone is degraded. There is no one else who can give knowledge. Only the Ocean of Knowledge gives knowledge. There is the day through knowledge. The day is that of Rama and the night is that of Ravan. Only you children understand the accurate meaning of these words. It is just that you are weak in your efforts. The Father explains to you very well. You have taken the full 84 births and you now have to become pure and return home. You should have the pure pride that, by following the Father’s directions, we souls are making Bharat into heaven where we will then rule. Whether you become kings, queens or subjects, the status you claim will be according to the efforts you make now. You can see how kings and queens are being created. It is said: Follow the Father! That refers to this time. It doesn’t refer to a worldly relationship. The Father gives the direction: Constantly remember Me alone and your sins will be absolved. You understand that you are now following shrimat. You serve so many people. When you children come to the Father, Shiv Baba entertains you with knowledge. This one is also studying. Shiv Baba says: I come in the morning. Achcha, then, when someone comes to meet Baba, can this one not explain to him? Would this one say: Baba, You come and explain because I am unable to explain? These are very deep and incognito matters. I explain the best of all. Why do you think that it is just Shiv Baba who explains? Can this one not explain? You understand that this one must have explained in the previous cycle, for this is why he attained that status. Mama also used to explain. She too claimed a high status. Mama and Baba are shown in the subtle region. You children should follow the Father. It is the poor who surrender; the wealthy are unable to do that. It is the poor who say: Baba, all of this belongs to You. Shiv Baba is the Bestower. He never takes anything. He says to the children: All of this is yours. Neither here nor there do I build a palace for Myself. I make you into the masters of heaven. You now have to fill your aprons with jewels of knowledge. People go to a temple and say: Fill my apron! However, which apron? And, fill it with what? It is Lakshmi who fills your aprons by giving you wealth. They don’t go to Shiva at all. They go to Shankar and say this. They believe that Shiva and Shankar are one and the same, but it is not like that. The Father comes and tells you true things. The Father is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. You children have to live at home with your families. You also have to carry on with your businesses. Each of you asks advice for yourself: Baba, I have to tell lies about this matter. The Father feels the pulse of each one and gives advice accordingly, because He thinks: Why should I give advice that children couldn’t follow? He feels their pulse and gives the advice that they can follow. If I told them to do something that they couldn’t do, they would come into the line of disobedient souls. Each of you souls has your own karmic accounts. There is just the one Surgeon and you have to go to Him. He will give you full advice. All of you should ask Baba. Baba, how should I interact with others in this situation? What should I do now? The Father sends you to heaven. You know that you are going to become residents of heaven. We are now residents of the confluence age. You are now neither in hell nor in heaven. The anchors of those who have become Brahmins have been raised from this dirty world. You have left the shore of the iron-aged world. Some Brahmins go ahead fast on the pilgrimage of remembrance whereas others go slowly. Some let go of Baba’s hand, that is, they go back to the iron age. You know that the Boatman is now taking you. There are many types of pilgrimage. Your pilgrimage is just the one. This pilgrimage is completely unique. When storms come, they break your remembrance. Make this pilgrimage of remembrance very firm! Make effort! You are karma yogis. As much as possible, let your hands do the work and your heart have remembrance. For half the cycle you lovers have been remembering the Beloved and saying: Baba, there is a lot of sorrow here! Now make us into the masters of the land of happiness. When you stay on the pilgrimage of remembrance your sins will finish. You had claimed the inheritance of heaven but you then lost it. Bharat used to be heaven; that is why they speak of ancient Bharat. They give a lot of respect to Bharat. It is the greatest and also the oldest land. Bharat is now so poor and that is why everyone gives it aid. Those people believe that they will have so much grain that they won’t have to import any from anywhere else, but you understand that destruction is just ahead. Those who understand this well will have a lot of inner happiness. So many come to the exhibitions. They say: You are telling the truth. However, it doesn’t sit in their intellects that they have to claim their inheritance from the Father. As soon as they leave there, everything finishes for them. You know that Baba is sending you to heaven. There, there is neither the jail of a womb nor any other jail. The pilgrimage to jail has now become so easy. Then, in the golden age, you won’t have to see the face of a jail; neither jail will exist there. Everything here is the pomp of Maya. They finish off important people. Today, they give someone a lot of respect and tomorrow, that respect finishes. Nowadays, everything that happens is very quick. Death will also be quick. In the golden age there are no such upheavals. Just see what happens as you make further progress. The scenes will be very fearsome. You children have had visions of that. The main thing for you children is the pilgrimage of remembrance. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become very, very accurate in your thoughts, words and deeds. After becoming a Brahmin, don’t perform any actions of a shudra.
  2. Be obedient and completely follow the advice you receive from Baba. Perform every action as a karma yogi. Fill everyone’s apron with jewels of knowledge.
Blessing: May you constantly be full of power by understanding the significance of amrit vela and using it accurately.
In order to make yourself full of power, every day at amrit vela, tour around, not with your body, but with your mind. At amrit vela, you have the help of the morning time and you have the help of an intellect that is in a satopradhan stage. Therefore, at a time that is blessed, the mind also has to be in a powerful stage. A powerful stage means a seed stage like that of the Father. In an ordinary stage, you can continue to perform actions, but use the blessed time in an accurate way and all weaknesses will finish.
Slogan: With the treasure of your powers, make powerless souls who are under an external influence powerful.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 17 FEBRUARY 2021 : AAJ KI MURLI

17-02-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम ब्राह्मण सो देवता बनते हो, तुम्हीं भारत को स्वर्ग बनाते हो, तो तुम्हें अपनी ब्राह्मण जाति का नशा चाहिए”
प्रश्नः- सच्चे ब्राह्मणों की मुख्य निशानियां क्या होंगी?
उत्तर:- 1.सच्चे ब्राह्मणों का इस पुरानी दुनिया से लंगर उठा हुआ होगा। वह जैसे इस दुनिया का किनारा छोड़ चुके। 2. सच्चे ब्राह्मण वह जो हाथों से काम करें और बुद्धि सदा बाप की याद में रहे अर्थात् कर्मयोगी हो। 3. ब्राह्मण अर्थात् कमल फूल समान। 4. ब्राह्मण अर्थात् सदा आत्म-अभिमानी रहने का पुरूषार्थ करने वाले। 5. ब्राह्मण अर्थात् काम महाशत्रु पर विजय प्राप्त करने वाले।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप रूहानी बच्चों को समझाते हैं। बच्चे कौन? यह ब्राह्मण। यह कभी भूलो मत कि हम ब्राह्मण हैं, देवता बनने वाले हैं। वर्णों को भी याद करना पड़ता है। यहाँ तुम आपस में सिर्फ ब्राह्मण ही ब्राह्मण हो। ब्राह्मणों को बेहद का बाप पढ़ाते हैं। यह ब्रह्मा नहीं पढ़ाते हैं। शिवबाबा पढ़ाते हैं ब्रह्मा द्वारा। ब्राह्मणों को ही पढ़ाते हैं। शूद्र से ब्राह्मण बनने बिगर देवी-देवता बन नहीं सकेंगे। वर्सा शिवबाबा से मिलता है। वह शिवबाबा तो सबका बाप है। इस ब्रह्मा को ग्रेट ग्रेट ग्रैन्ड फादर कहा जाता है। लौकिक बाप तो सबको होते हैं। पारलौकिक बाप को भक्ति मार्ग में याद करते हैं। अब तुम बच्चे समझते हो यह है अलौकिक बाप जिनको कोई नहीं जानते। भल ब्रह्मा का मन्दिर है, यहाँ भी प्रजापिता आदि देव का मन्दिर है। उनको कोई महावीर कहते हैं, दिलवाला भी कहते हैं। परन्तु वास्तव में दिल लेने वाला है शिवबाबा, न कि प्रजापिता आदि देव ब्रह्मा। सब आत्माओं को सदा सुखी बनाने वाला, खुश करने वाला एक ही बाप है। यह भी सिर्फ तुम ही जानते हो। दुनिया में तो मनुष्य कुछ नहीं जानते। तुच्छ बुद्धि हैं। हम ब्राह्मण ही शिवबाबा से वर्सा ले रहे हैं। तुम भी यह घड़ी-घड़ी भूल जाते हो। याद है बड़ी सहज। योग अक्षर संन्यासियों ने रखा है। तुम तो बाप को याद करते हो। योग कॉमन अक्षर है। इनको योग आश्रम भी नहीं कहेंगे, बच्चे और बाप बैठे हैं। बच्चों का फर्ज है – बेहद के बाप को याद करना। हम ब्राह्मण हैं, डाडे से वर्सा ले रहे हैं ब्रह्मा द्वारा इसलिए शिवबाबा कहते हैं जितना हो सके याद करते रहो। चित्र भी भल रखो तो याद रहेगी। हम ब्राह्मण हैं, बाप से वर्सा लेते हैं। ब्राह्मण कभी अपनी जाति को भूलते हैं क्या? तुम शूद्रों के संग में आने से ब्राह्मणपना भूल जाते हो। ब्राह्मण तो देवताओं से भी ऊंच हैं क्योंकि तुम ब्राह्मण नॉलेजफुल हो। भगवान को जानी जाननहार कहते हैं ना। उसका भी अर्थ नहीं जानते। ऐसे नहीं कि सबके दिलों में क्या है वह बैठ देखते हैं। नहीं, उनको सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का नॉलेज है। वह बीजरूप है। झाड़ के आदि-मध्य-अन्त को जानते हैं। तो ऐसे बाप को बहुत याद करना है। इनकी आत्मा भी उस बाप को याद करती है। वह बाप कहते हैं यह ब्रह्मा भी मुझे याद करेंगे तब यह पद पायेंगे। तुम भी याद करेंगे तब पद पायेंगे। पहले-पहले तुम अशरीरी आये थे फिर अशरीरी बनकर वापिस जाना है। और सब तुमको दु:ख देने वाले हैं, उनको क्यों याद करेंगे। जबकि मैं तुमको मिला हूँ, मैं तुमको नई दुनिया में ले चलने आया हूँ। वहाँ कोई दु:ख नहीं। वह है दैवी संबंध। यहाँ पहले-पहले दु:ख होता है स्त्री-पुरूष के सम्बन्ध में क्योंकि विकारी बनते हैं। तुमको अब मैं उस दुनिया का लायक बनाता हूँ, जहाँ विकार की बात नहीं रहती। यह काम महाशत्रु गाया हुआ है जो आदि-मध्य-अन्त दु:ख देता है। क्रोध के लिए ऐसे नहीं कहेंगे कि यह आदि-मध्य-अन्त दु:ख देता है, नहीं। काम को जीतना है। वही आदि-मध्य-अन्त दु:ख देता है। पतित बनाता है। पतित अक्षर विकार पर लगता है। इस दुश्मन पर जीत पानी है। तुम जानते हो हम स्वर्ग के देवी-देवता बन रहे हैं। जब तक यह निश्चय नहीं तो कुछ पा नहीं सकेंगे।

बाप समझाते हैं बच्चों को मन्सा-वाचा-कर्मणा एक्यूरेट बनना है। मेहनत है। दुनिया में यह किसको पता नहीं कि तुम भारत को स्वर्ग बनाते हो। आगे चलकर समझेंगे। चाहते भी हैं वन वर्ल्ड, वन राज्य, वन रिलीजन, वन भाषा हो। तुम समझा सकते हो – सतयुग में आज से 5 हज़ार वर्ष पहले एक राज्य, एक धर्म था जिसको स्वर्ग कहा जाता है। रामराज्य और रावण राज्य को भी कोई नहीं जानते। 100 प्रतिशत तुच्छ बुद्धि से अब तुम स्वच्छ बुद्धि बनते हो नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार। बाप बैठ तुमको पढ़ाते हैं। सिर्फ बाप की मत पर चलो। बाप कहते हैं कि पुरानी दुनिया में रहते कमल फूल समान पवित्र रहो। मुझे याद करते रहो। बाप आत्माओं को समझाते हैं। मैं आत्माओं को ही पढ़ाने आया हूँ इन आरगन्स द्वारा। तुम आत्मायें भी आरगन्स द्वारा सुनती हो। बच्चों को आत्म-अभिमानी बनना है। यह तो पुराना छी-छी शरीर है। तुम ब्राह्मण पूजा के लायक नहीं हो। तुम गायन लायक हो, पूजने लायक देवतायें हैं। तुम श्रीमत पर विश्व को पवित्र स्वर्ग बनाते हो इसलिए तुम्हारा गायन है। तुम्हारी पूजा नहीं हो सकती। गायन सिर्फ तुम ब्राह्मणों का है, न कि देवताओं का। बाप तुमको ही शूद्र से ब्राह्मण बनाते हैं। जगत अम्बा वा ब्रह्मा आदि के मन्दिर बनाते हैं परन्तु उनको यह पता नहीं है कि यह कौन हैं? जगत पिता तो ब्रह्मा हुआ ना। उनको देवता नहीं कहेंगे। देवताओं की आत्मा और शरीर दोनों पवित्र हैं। अब तुम्हारी आत्मा पवित्र होती जाती है। पवित्र शरीर नहीं है। अब तुम ईश्वर की मत पर भारत को स्वर्ग बना रहे हो। तुम भी स्वर्ग के लायक बन रहे हो। सतोप्रधान जरूर बनना है। सिर्फ तुम ब्राह्मण ही हो जिनको बाप बैठ पढ़ाते हैं। ब्राह्मणों का झाड़ वृद्धि को पाता रहेगा। ब्राह्मण जो पक्के बन जायेंगे वह फिर जाकर देवता बनेंगे। यह नया झाड़ है। माया के तूफान भी लगते हैं। सतयुग में कोई तूफान नहीं लगता। यहाँ माया बाबा की याद में रहने नहीं देती। हम चाहते हैं बाबा की याद में रहें। तमो से सतोप्रधान बनें। सारा मदार है याद पर। भारत का प्राचीन योग मशहूर है। विलायत वाले भी चाहते हैं प्राचीन योग कोई आकर सिखलाये। अब योग भी दो प्रकार के हैं – एक हैं हठयोगी, दूसरे हैं राजयोगी। तुम हो राजयोगी। यह भारत का प्राचीन राजयोग है जो बाप ही सिखलाते हैं। सिर्फ गीता में मेरे बदले कृष्ण का नाम डाल दिया है। कितना फर्क हो गया है। शिवजयन्ती होती है तो तुम्हारी वैकुण्ठ की भी जयन्ती होती है, जिसमें श्रीकृष्ण का राज्य है। तुम जानते हो शिवबाबा की जयन्ती है तो गीता की भी जयन्ती है। बैकुण्ठ की भी जयन्ती होती है जिसमें तुम पवित्र बन जायेंगे। कल्प पहले मुआफिक स्थापना करते हैं। अब बाप कहते हैं मुझे याद करो। याद न करने से माया कुछ न कुछ विकर्म करा देती है। याद नहीं किया और लगी चमाट। याद में रहने से चमाट नहीं खायेंगे। यह बॉक्सिंग होती है। तुम जानते हो – हमारा दुश्मन कोई मनुष्य नहीं है। रावण है दुश्मन।

बाप कहते हैं इस समय की शादी बरबादी है। एक-दो की बरबादी करते हैं। (पतित बना देते हैं) अब पारलौकिक बाप ने आर्डीनेन्स निकाला है, बच्चे यह काम महाशत्रु है। इन पर जीत पहनो और पवित्रता की प्रतिज्ञा करो। कोई भी पतित न बनें। जन्म-जन्मान्तर तुम पतित बने हो इस विकार से इसलिए काम महाशत्रु कहा जाता है। साधू-सन्त सब कहते हैं पतित-पावन आओ। सतयुग में पतित कोई होता नहीं। बाप आकर ज्ञान से सर्व की सद्गति करते हैं। अब सभी दुर्गति में हैं। ज्ञान देने वाला कोई नहीं है। ज्ञान देने वाला एक ही ज्ञान सागर है। ज्ञान से दिन है। दिन है राम का, रात है रावण की। इन अक्षरों का यथार्थ अर्थ भी तुम बच्चे समझते हो। सिर्फ पुरूषार्थ में कमजोरी है। बाप तो बहुत अच्छी रीति समझाते हैं। तुमने 84 जन्म पूरे किये हैं, अब पावित्र बनकर वापस जाना है। तुमको तो शुद्ध अहंकार होना चाहिए। हम आत्मायें बाबा की मत पर इस भारत को स्वर्ग बना रहे हैं, जिस स्वर्ग में फिर राज्य करेंगे। जितनी मेहनत करेंगे उतना पद पायेंगे। चाहे राजा-रानी बनो, चाहे प्रजा बनो। राजा-रानी कैसे बनते हैं, वह भी देख रहे हो। फालो फादर गाया जाता है, अब की बात है। लौकिक सम्बन्ध के लिए नहीं कहा जाता। यह बाप मत देते हैं – मामेकम् याद करो तो विकर्म विनाश होंगे। तुम समझते हो हम अभी श्रीमत पर चलते हैं। बहुतों की सेवा करते हैं। बच्चे, बाप के पास आते हैं तो शिवबाबा भी ज्ञान से बहलाते हैं। यह भी तो सीखते हैं ना। शिवबाबा कहते हैं मैं आता हूँ सवेरे को। अच्छा फिर कोई मिलने के लिए आते हैं तो क्या यह नहीं समझायेंगे। ऐसे कहेंगे क्या कि बाबा आप आकर समझाओ, मैं नहीं समझाऊंगा। यह बड़ी गुप्त गुह्य बातें हैं ना। मैं तो सबसे अच्छा समझा सकता हूँ। तुम ऐसे क्यों समझते हो कि शिवबाबा ही समझाते हैं, यह नहीं समझाते होंगे। यह भी जानते हो कल्प पहले इसने समझाया है, तब तो यह पद पाया है। मम्मा भी समझाती थी ना। वह भी ऊंच पद पाती है। मम्मा-बाबा को सूक्ष्मवतन में देखते हैं तो बच्चों को फालो फादर करना है। सरेन्डर होते भी गरीब हैं, साहूकार हो न सकें। गरीब ही कहते हैं – बाबा यह सब कुछ आपका है। शिवबाबा तो दाता है। वह कभी लेता नहीं है। बच्चों को कहते हैं – यह सब कुछ तुम्हारा है। मैं अपने लिए महल न यहाँ, न वहाँ बनाता हूँ। तुमको स्वर्ग का मालिक बनाता हूँ। अब इन ज्ञान रत्नों से झोली भरनी है। मन्दिर में जाकर कहते हैं मेरी झोली भरो। परन्तु किस प्रकार की, किस चीज़ की झोली भर दो… झोली भरने वाली तो लक्ष्मी है, जो पैसा देती है। शिव के पास तो जाते नहीं, शंकर के पास जाकर कहते हैं। समझते हैं शिव और शंकर एक हैं परन्तु ऐसे थोड़ेही है।

बाप आकर सत्य बात बताते हैं। बाप है ही दु:ख हर्ता सुख कर्ता। तुम बच्चों को गृहस्थ व्यवहार में भी रहना है। धंधा भी करना है। हर एक अपने लिए राय पूछते हैं – बाबा हमको इस बात में झूठ बोलना पड़ता है। बाप हर एक की नब्ज़ देख राय देते हैं क्योंकि बाप समझते हैं मैं कहूँ और कर न सकें ऐसी राय ही क्यों दूँ। नब्ज देख राय ही ऐसी दी जाती है जो कर भी सके। कहूँ और करे नहीं तो नाफरमानबरदार की लाइन में आ जाए। हर एक का अपना-अपना हिसाब-किताब है। सर्जन तो एक ही है, उनके पास आना पड़े। वह पूरी राय देंगे। सबको पूछना चाहिए – बाबा इस हालत में हमको कैसे चलना चाहिए? अब क्या करें? बाप स्वर्ग में तो ले जाते हैं। तुम जानते हो हम स्वर्गवासी तो बनने वाले हैं। अब हम संगमवासी हैं। तुम अब न नर्क में हो, न स्वर्ग में हो। जो-जो ब्राह्मण बनते हैं उनका लंगर इस छी-छी दुनिया से उठ चुका है। तुमने कलियुगी दुनिया का किनारा छोड़ दिया है। कोई ब्राह्मण तीखा जा रहा है याद की यात्रा में, कोई कम। कोई हाथ छोड़ देते हैं अर्थात् फिर कलियुग में चले जाते हैं। तुम जानते हो खिवैया हमको अब ले जा रहा है। वह यात्रा तो अनेक प्रकार की है। तुम्हारी एक ही यात्रा है। यह बिल्कुल न्यारी यात्रा है। हाँ तूफान आते हैं जो याद को तोड़ देते हैं। इस याद की यात्रा को अच्छी रीति पक्का करो। मेहनत करो। तुम कर्मयोगी हो। जितना हो सके हथ कार डे दिल यार डे… आधाकल्प तुम आशिक माशूक को याद करते आये हो। बाबा यहाँ बहुत दु:ख है, अब हमको सुखधाम का मालिक बनाओ। याद की यात्रा में रहेंगे तो तुम्हारे पाप खलास हो जायेंगे। तुमने ही स्वर्ग का वर्सा पाया था, अब गँवाया है। भारत स्वर्ग था तब कहते हैं प्राचीन भारत। भारत को ही बहुत मान देते हैं। सबसे बड़ा भी है, सबसे पुराना भी है। अब तो भारत कितना गरीब है इसलिए सब उनको मदद करते हैं। वो लोग समझते हैं, हमारे पास बहुत अनाज हो जायेगा। कहाँ से मंगाना नहीं पड़ेगा परन्तु यह तो तुम जानते हो – विनाश सामने खड़ा है जो अच्छी तरह से समझते हैं उन्हों को अन्दर बहुत खुशी रहती है। प्रदर्शनी में कितने आते हैं। कहते हैं तुम सत्य कहते हो परन्तु यह समझें कि हमको बाप से वर्सा लेना है, यह थोड़ेही बुद्धि में बैठता है। यहाँ से बाहर निकले खलास। तुम जानते हो बाबा हमको स्वर्ग में ले जाता है। वहाँ न गर्भ जेल में, न उस जेल में जायेंगे। अभी जेल की यात्रा भी कितनी सहज हो गई है। फिर सतयुग में कभी जेल का मुंह देखने को नहीं मिलेगा। दोनों जेल नहीं रहेंगी। यहाँ सब यह माया का पाम्प है। बड़ों-बड़ों को जैसे खलास कर देते हैं। आज बहुत मान दे रहे हैं, कल मान ही खलास। आज हर एक बात क्वीक होती है। मौत भी क्वीक होते रहेंगे। सतयुग में ऐसे कोई उपद्रव होते नहीं। आगे चल देखना क्या होता है। बहुत भयंकर सीन है। तुम बच्चों ने साक्षात्कार भी किया है। बच्चों के लिए मुख्य है याद की यात्रा। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) मन्सा-वाचा-कर्मणा बहुत-बहुत एक्यूरेट बनना है। ब्राह्मण बनकर कोई भी शूद्रों के कर्म नहीं करने हैं।

2) बाबा से जो राय मिलती है उस पर पूरा-पूरा चलकर फरमानबरदार बनना है। कर्मयोगी बन हर कार्य करना है। सर्व की झोली ज्ञान रत्नों से भरनी है।

वरदान:- अमृतवेले के महत्व को समझकर यथार्थ रीति यूज़ करने वाले सदा शक्ति सम्पन्न भव
स्वयं को शक्ति सम्पन्न बनाने के लिए रोज़ अमृतवेले तन की और मन की सैर करो। जैसे अमृतवेले समय का भी सहयोग है, बुद्धि सतोप्रधान स्टेज का भी सहयोग है, तो ऐसे वरदानी समय पर मन की स्थिति भी सबसे पावरफुल स्टेज की चाहिए। पावरफुल स्टेज अर्थात् बाप समान बीजरूप स्थिति। साधारण स्थिति में तो कर्म करते भी रह सकते हो लेकिन वरदान के समय को यथार्थ रीति यूज़ करो तो कमजोरी समाप्त हो जायेगी।
स्लोगन:- अपने शक्तियों के खजाने से शक्तिहीन, परवश आत्मा को शक्तिशाली बनाओ।

TODAY MURLI 17 FEBRUARY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 17 February 2020

17/02/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father donates imperishable jewels of knowledge to you, which you then continue to donate to others. It is by donating these that you will receive salvation.
Question: Which new path does no one but you children know about?
Answer: The Father has now shown you the path to return home and to go to heaven. You know that the land of peace is the home of you souls. Heaven is separate from the land of peace. No one but you knows this new path. You say: Now renounce the sleep of Kumbhakarna. Open your eyes and become pure. Only when you have become pure can you return home.
Song: Awaken o brides, awaken!

Om shanti. God speaks. The Father has explained that neither human beings nor deities should be called God because they have corporeal forms. The Supreme Father, the Supreme Soul, neither has a subtle form nor a corporeal form. This is why it is said: Salutations to the Supreme Soul, Shiva. He alone is the Ocean of Knowledge. No human being can have this knowledge. Which knowledge? The knowledge of the Creator and the beginning, the middle and the end of creation. No one has the knowledge of souls or the Supreme Soul. Therefore, the Father comes and awakens you: O brides, o devotees, wake up! All males and females are devotees; they remember God. All brides remember the one Bridegroom. All the lovers, the souls, remember the Supreme Father, the Supreme Soul, the Beloved. All are Sitas and the one Supreme Father, the Supreme Soul, is Rama. Why is the term “Rama” used? This is now the kingdom of Ravan. In comparison with this, it is said that the other is the kingdom of Rama. Rama is the Father, who is called Ishwar (God) and also Bhagawan (God). His original name is Shiva. The Father now says: Wake up! The new age is about to come. The old age is coming to an end. After this Mahabharat War, the golden age will be established and the kingdom of Lakshmi and Narayan will be established. The old iron age is coming to an end. This is why the Father says: Children, renounce the sleep of Kumbhakarna! Now open your eyes! The new world is coming. The new world is called heaven, the golden age. This path is new. No one knows the path to return home or to go to heaven. Heaven is separate from the land of peace where souls reside. The Father now says: Wake up! You have become impure in Ravan’s kingdom. At this time, not a single soul can be pure. They cannot be called pure charitable souls. Although people give donations and perform charity, not a single soul can be called a pure soul. Here, in the iron age, there are impure souls. In the golden age, there are pure souls. This is why they say: O Shiv Baba, come and make us into pure souls. This is an aspect of purity. The Father comes now to donate the imperishable jewels of knowledge to you children. He says: Continue to donate these to others and the eclipse of the five vices will be removed. Donate the five vices and the eclipse of sorrow will be removed. You will then become pure and go to the land of happiness. Lust is the foremost of the five vices. Renounce that and become pure. People themselves say: O Purifier, purify us! Those who indulge in vice are called impure. This play of happiness and sorrow only applies to Bharat. The Father comes in Bharat and enters an ordinary body and then tells us the biography of this one. All of you are Brahmins, children of Prajapita Brahma. He shows you all the methods to become pure. You Brahma Kumars and Kumaris cannot indulge in vice. You only have this one birth as Brahmins. You take 21 births in the deity clans and 63 births in the merchant and shudra clans. This final birth is in the Brahmin clan during which you become pure. The Father says: Become pure by having remembrance of the Father and burn your sins away with the power of yoga. Become pure in this one birth. No one in the golden age is impure. By becoming pure in this final birth, you will stay pure for 21 births. You were pure and have now become impure. You call out because you are impure. Who made you impure? The devilish instructions of Ravan. No one, except Me, can liberate you children from sorrow and the kingdom of Ravan. Everyone has been burnt by sitting on the pyre of lust. I have to come to make you sit on the pyre of knowledge. I have to pour the water of knowledge. All of you have to be granted salvation. Those who study well are the ones who experience salvation. All the others go to the land of peace. There are only deities in the golden age. They are the ones who have received salvation. All others receive liberation or mukti. Five thousand years ago there was the kingdom of deities. It isn’t a question of hundreds of thousands of years. The Father says: Sweetest children, remember Me, the Father! The word “Manmanabhav” is very well known. God speaks: No bodily being should be called God. Souls shed bodies and take others. Sometimes they are female ones, and sometimes male ones. God doesn’t enter the play of birth and death. This is fixed according to the drama. One birth cannot be the same as the next. This birth of yours will repeat again. Each act and features of yours will be the same again. This drama is eternally predestined; it never changes. Shri Krishna will receive an identical body to the one he had before, in the golden age. That soul is now here. You know that you will become like that again. The features of Lakshmi and Narayan portrayed in the picture are not accurate, but they will be created like that again. Anyone new would not understand these aspects. Only when you explain to everyone very clearly will they understand the cycle of 84 births and also understand that the name, form and features etc. are definitely different in every birth. These features are of this one’s final, 84th birth. This is why Narayan is portrayed with similar features. Otherwise, people wouldn’t be able to understand. You children understand that Mama and Baba are the ones who become Lakshmi and Narayan. The five elements here are not pure. All of these bodies are impure. Bodies in the golden age are pure. Krishna is known as the most beautiful one; he has natural beauty. People abroad may be fair but they cannot be called deities; there are no divine virtues. The Father sits here and explains so clearly. You earn such an elevated income by studying this most elevated study. There were countless diamonds, jewels and wealth there. The palaces there were embedded with diamonds and jewels. All of that has disappeared. You become so wealthy! You are earning an unlimited income for 21 births, but this does require a great deal of effort. Become soul conscious! I am a soul. I now have to shed this old body and return home. The Father has now come to take you with Him. I, a soul, have now completed 84 births and I have to remember the Father and become pure once again. Otherwise, there will be punishment because this is now the time of settlement before you return home. All souls have to settle their karmic accounts. On the path of devotion, people sacrifice themselves at Kashi, but none of them receives liberation by doing that. That is the path of devotion whereas this is the path of knowledge. Here, there is no question of committing suicide. That is suicide. Nevertheless, because of their deep desire for liberation, their accounts of sin are settled; they then begin again. People now no longer have the courage to sacrifice themselves at Kashi. However, no one can receive liberation or liberation-in-life by doing that. No one but the Father can grant liberation or liberation-in-life. Souls are continuing to come down, so how can souls return home? The Father is the One who comes and grants salvation to all and takes them back home. There are very few human beings in the golden age. Souls are never destroyed. Souls are imperishable; bodies are perishable. People in the golden age have a long lifespan; there is no question of sorrow. Souls shed their bodies and take their next ones. There is the example of snakes. Shedding the body is not called dying; there is no question of sorrow in that. Each one understands that the time has come for him to shed that body and take his next one. You children instil the habit of remaining detached from your bodies here. I am a soul. I now have to return home and I will then go to the new world. I will take a new skin. Practise this! You souls understand that you take 84 bodies. However, people speak of 8.4 million species. They say of the Father that He is in the pebbles and stones, in countless things. That is called defamation of religion. The intellects of human beings have changed from clean to degraded. The Father is now making your intellects clean. They are made clean with remembrance. The Father says: The new age is now about to come. The sign of that is this Mahabharat War. This war is the same one that took place with missiles through which all the many religions were destroyed and the one religion established. Therefore, God must surely be there too. How could Krishna have come here? Is Krishna the Ocean of Knowledge or is it the incorporeal One? Krishna will not even have this knowledge. This knowledge disappears. Your images too are created on the path of devotion. You become worshippers from being worthy of worship. Your celestial degrees decrease and your lifespan too decrease because you become bhogis (indulge in sensual pleasures). There, they are all yogis. This doesn’t mean that they have yoga in remembrance of someone. They are pure there anyway. Krishna is also called Yogeshwar (Lord of Yoga). At this time, the Krishna soul has yoga with the Father. The Krishna soul is Yogeshwar at this time. He wouldn’t be called Yogeshwar in the golden age. There, he is called a prince. By the end, your stage should have become such that you only have remembrance of one the Father alone and no one’s body. All of your attachment to bodies and the old world should end. Sannyasis live in the old world but they end their attachment to their households. They believe that the brahm element is God and they have yoga with that. They call themselves brahm gyani and tattwa gyani (knowledge of brahm and the element of light). They believe that they will merge into the brahm element. The Father says: All of that is wrong. I am the One who is right. I am the One called the Truth. The Father says that your pilgrimage of remembrance has to be very firm. Knowledge is very easy, but it does take effort to become soul conscious. The Father says: You mustn’t remember anyone’s body. That remembrance is of an evil spirit; it is worship of an evil spirit. I am bodiless; you have to remember Me. Even whilst seeing with your eyes, keep remembering the Father with your intellect. Follow the Father’s directions and become liberated from the punishment of Dharamraj. If you become pure, the punishment will end. The destination is very high. It is very easy to create subjects, but, within that, it is also explained to you who will become wealthy subjects and who will become poor subjects. At the end, your intellects should only remain in yoga with the Father and the home. When actors finish acting their parts in a play, their intellects go to their homes. This is an unlimited aspect. There, they earn limited incomes. Here, your incomes are unlimited. Good actors earn very good incomes. Therefore, the Father says: Whilst living at home with your families, let your intellects be linked in yoga up there. Human beings are lovers of one another. Here, all of you are lovers of the one Beloved. Everyone remembers Him. He is the wonderful Traveller. He comes at this time to liberate everyone from sorrow and grant them salvation. He is called the true Beloved. People fall in love with one another’s bodies. It is not a question of vice but it is called the yoga of body consciousness. It is remembrance of evil spirits. To remember human beings means to remember the five evil spirits that is, elements of matter. The Father says: Forget the five elements and remember Me! This does take effort. You also need divine virtues. To take revenge on someone is also a devilish trait. In the golden age, there is only the one religion. There is no question of taking revenge on anyone. That is the undivided deity religion. No one but Father Shiva can establish it. The deities who reside in the subtle region are called angels. You are now Brahmins and you later become angels. You will return home and then go down into the new world and become human beings with divine virtues, which means that you will become deities. You are now changing from shudras into Brahmins. If you do not become children of Prajapita Brahma, how would you claim the inheritance? This Mama and Prajapita Brahma later become Lakshmi and Narayan. Jains tell you that their Jain religion is the oldest of all, but it is really Adi Dev Brahma who is called Mahavir. Brahma is Mahavir but the Jain monks gave the name Mahavir to their founder. All of you are now mahavirs (great warriors); you are conquering Maya. You are all becoming courageous. You are the true mahavirs. You are also called Shiv Shaktis; you ride lions. Maharathis ride elephants. Even then, the Father says: The destination is very high. You have to remember the one Father so that your sins are absolved. There is no other way. You rule the world with the power of yoga. This soul says: I now have to return home. This world is old. This renunciation is unlimited. Whilst living at home with your families and carrying on with your business, remain pure. Then, by understanding the cycle, you become the rulers of the globe. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to be saved from being punished by Dharamraj, don’t remember anyone’s body. Whilst seeing everything with your physical eyes, only remember the one Father. Practise becoming bodiless. Become pure.
  2. Show everyone the path to liberation and liberation-in-life. Now that the play is ending, you have to return home. By having this consciousness, you can accumulate an unlimited income.
Blessing: May you be constantly holy and happy and make intense effort while keeping your aim and destination in your awareness.
The aim of Brahmin life is to have constant inner happiness without any limited supports. When this aim changes and you become trapped in little alleyways of limited attainments, the destination then becomes very far away. Therefore, no matter what happens, even if you have to renounce limited attainments, do so, but never let go of your imperishable happiness. Keep the blessing of being holy and happy in your awareness and attain imperishable attainments by making intense effort.
Slogan: Become an image of virtues and continue to donate virtues. This is very great service.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 17 FEBRUARY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 17 February 2020

17-02-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाप तुम्हें अविनाशी ज्ञान रत्नों का दान देते हैं, तुम फिर औरों को दान देते रहो, इसी दान से सद्गति हो जायेगी”
प्रश्नः- कौन-सा नया रास्ता तुम बच्चों के सिवाए कोई भी नहीं जानता है?
उत्तर:- घर का रास्ता वा स्वर्ग जाने का रास्ता अभी बाप द्वारा तुम्हें मिला है। तुम जानते हो शान्तिधाम हम आत्माओं का घर है, स्वर्ग अलग है, शान्तिधाम अलग है। यह नया रास्ता तुम्हारे सिवाए कोई भी नहीं जानता। तुम कहते हो अब कुम्भकरण की नींद छोड़ो, आंख खोलो, पावन बनो। पावन बनकर ही घर जा सकेंगे।
गीत:- जाग सजनियाँ जाग……….

ओम् शान्ति। भगवानुवाच। यह तो बाप ने समझाया है कि मनुष्य को वा देवताओं को भगवान नहीं कहा जाता क्योंकि इनका साकारी रूप है। बाकी परमपिता परमात्मा का न आकारी, न साकारी रूप है इसलिए उनको शिव परमात्माए नम: कहा जाता है। ज्ञान का सागर वह एक ही है। कोई मनुष्य में ज्ञान हो नहीं सकता। किसका ज्ञान? रचता और रचना के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान अथवा आत्मा और परमात्मा का यह ज्ञान कोई में नहीं है। तो बाप आकर जगाते हैं-हे सजनियां, हे भक्तियां जागो। सभी मेल अथवा फीमेल भक्तियां हैं। भगवान को याद करते हैं। सभी ब्राइड्स याद करती हैं एक ब्राइडग्रूम को। सभी आशिक आत्मायें परमपिता परमात्मा माशूक को याद करती हैं। सभी सीतायें हैं, राम एक परमपिता परमात्मा है। राम अक्षर क्यों कहते हैं? रावणराज्य है ना। तो उसकी भेंट में रामराज्य कहा जाता है। राम है बाप, जिसको ईश्वर भी कहते हैं, भगवान भी कहते हैं। असली नाम उनका है शिव। तो अब कहते हैं जागो, अब नवयुग आता है। पुराना खत्म हो रहा है। इस महाभारत लड़ाई के बाद सतयुग स्थापन होता है और इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य होगा। पुराना कलियुग खत्म हो रहा है इसलिए बाप कहते हैं-बच्चे, कुम्भकरण की नींद छोड़ो। अब आंख खोलो। नई दुनिया आती है। नई दुनिया को स्वर्ग, सतयुग कहा जाता है। यह है नया रास्ता। यह घर वा स्वर्ग में जाने का रास्ता कोई भी जानते नहीं हैं। स्वर्ग अलग है, शान्तिधाम जहाँ आत्मायें रहती हैं, वह अलग है। अब बाप कहते हैं जागो, तुम रावणराज्य में पतित हो गये हो। इस समय एक भी पवित्र आत्मा नहीं हो सकती। पुण्य आत्मा नहीं कहेंगे। भल मनुष्य दान-पुण्य करते हैं, परन्तु पवित्र आत्मा तो एक भी नहीं है। यहाँ कलियुग में हैं पतित आत्मायें, सतयुग में हैं पावन आत्मायें, इसलिए कहते हैं-हे शिवबाबा, आकर हमको पावन आत्मा बनाओ। यह पवित्रता की बात है। इस समय बाप आकर तुम बच्चों को अविनाशी ज्ञान रत्नों का दान देते हैं। कहते हैं तुम भी औरों को दान देते रहो तो 5 विकारों का ग्रहण छूट जाए। 5 विकारों का दान दो तो दु:ख का ग्रहण छूट जाए। पवित्र बन सुखधाम में चले जायेंगे। 5 विकारों में नम्बरवन है काम, उसको छोड़ पवित्र बनो। खुद भी कहते हैं-हे पतित-पावन, हमको पावन बनाओ। पतित विकारी को कहा जाता है। यह सुख और दु:ख का खेल भारत के लिए ही है। बाप भारत में ही आकर साधारण तन में प्रवेश करते हैं फिर इनकी भी बायोग्राफी बैठ सुनाते हैं। यह हैं सब ब्राह्मण-ब्राह्मणियाँ, प्रजापिता ब्रह्मा की औलाद। तुम सबको पवित्र बनने की युक्ति बताते हो। ब्रह्माकुमार और कुमारियां तुम विकार में जा नहीं सकते हो। तुम ब्राह्मणों का यह एक ही जन्म है। देवता वर्ण में तुम 20 जन्म लेते हो, वैश्य, शूद्र वर्ण में 63 जन्म। ब्राह्मण वर्ण का यह एक अन्तिम जन्म है, जिसमें ही पवित्र बनना है। बाप कहते हैं पवित्र बनो। बाप की याद अथवा योगबल से विकर्म भस्म होंगे। यह एक जन्म पवित्र बनना है। सतयुग में तो कोई पतित होता नहीं। अभी यह अन्तिम जन्म पावन बनेंगे तो 21 जन्म पावन रहेंगे। पावन थे, अब पतित बने हो। पतित हैं तब तो बुलाते हैं। पतित किसने बनाया है? रावण की आसुरी मत ने। सिवाए मेरे तुम बच्चों को रावण राज्य से, दु:ख से कोई भी लिबरेट कर नहीं सकते। सभी काम चिता पर बैठ भस्म हो पड़े हैं। मुझे आकर ज्ञान चिता पर बिठाना पड़ता है। ज्ञान जल डालना पड़ता है। सबकी सद्गति करनी पड़े। जो अच्छी रीति पढ़ाई पढ़ते हैं उनकी ही सद्गति होती है। बाकी सब चले जाते हैं शान्तिधाम में। सतयुग में सिर्फ देवी-देवतायें हैं, उनको ही सद्गति मिली हुई है। बाकी सबको गति अथवा मुक्ति मिलती है। 5 हज़ार वर्ष पहले इन देवी-देवताओं का राज्य था। लाखों वर्ष की बात है नहीं। अब बाप कहते हैं मीठे-मीठे बच्चों, मुझ बाप को याद करो। मन्मनाभव अक्षर तो प्रसिद्ध है। भगवानुवाच-कोई भी देहधारी को भगवान नहीं कहा जाता। आत्मायें तो एक शरीर छोड़ दूसरा लेती हैं। कभी स्त्री, कभी पुरूष बनती हैं। भगवान कभी भी जन्म-मरण के खेल में नहीं आता। यह ड्रामा अनुसार नूँध है। एक जन्म न मिले दूसरे से। फिर तुम्हारा यह जन्म रिपीट होगा तो यही एक्ट, यही फीचर्स फिर लेंगे। यह ड्रामा अनादि बना-बनाया है। यह बदल नहीं सकता। श्रीकृष्ण को जो शरीर सतयुग में था वह फिर वहाँ मिलेगा। वह आत्मा तो अभी यहाँ है। तुम अभी जानते हो हम सो बनेंगे। यह लक्ष्मी-नारायण के फीचर्स एक्यूरेट नहीं हैं। बनेंगे फिर भी वही। यह बातें नया कोई समझ न सके। अच्छी रीति जब किसको समझाओ तब 84 का चक्र जानेंगे और समझेंगे बरोबर हरेक जन्म में नाम, रूप, फीचर्स आदि अलग-अलग होते हैं। अभी इनके अन्तिम 84 वें जन्म के फीचर्स यह हैं इसलिए नारायण के फीचर्स करीब-करीब ऐसे दिखाये हैं। नहीं तो मनुष्य समझ न सकें।

तुम बच्चे जानते हो – मम्मा-बाबा ही यह लक्ष्मी-नारायण बनते हैं। यहाँ तो 5 तत्व पवित्र हैं नहीं। यह शरीर सब पतित हैं। सतयुग में शरीर भी पवित्र होते हैं। कृष्ण को मोस्ट ब्युटीफुल कहते हैं। नैचुरल ब्युटी होती है। यहाँ विलायत में भल गोरे मनुष्य हैं परन्तु उनको देवता थोड़ेही कहेंगे। दैवीगुण तो नहीं हैं ना। तो बाप कितना अच्छी रीति बैठ समझाते हैं। यह है ऊंच ते ऊंच पढ़ाई, जिससे तुम्हारी कितनी ऊंच कमाई होती है। अनगिनत हीरे जवाहर, धन होता है। वहाँ तो हीरे जवाहरों के महल थे। अभी वह सब गुम हो गया है। तो तुम कितने धनवान बनते हो। अपरमअपार कमाई है 21 जन्मों के लिए, इसमें बहुत मेहनत चाहिए। देही-अभिमानी बनना है, हम आत्मा हैं, यह पुराना शरीर छोड़ अब वापस अपने घर जाना है। बाप अभी लेने लिए आये हैं। हम आत्मा ने 84 जन्म अब पूरे किये, अब फिर पावन बनना है, बाप को याद करना है। नहीं तो कयामत का समय है। सजायें खाकर वापिस चले जायेंगे। हिसाब-किताब तो सबको चुक्तू करना ही है। भक्ति मार्ग में काशी कलवट खाते थे तो भी कोई मुक्ति को नहीं पाते। वह है भक्ति मार्ग, यह है ज्ञान मार्ग। इसमें जीवघात करने की दरकार नहीं रहती। वह है जीव-घात। फिर भी भावना रहती है कि मुक्ति को पावें इसलिए पापों का हिसाब-किताब चुक्तू हो फिर चालू होता है। अभी तो काशी कलवट का कोई मुश्किल साहस रखते हैं। बाकी मुक्ति वा जीवनमुक्ति नहीं मिल सकती। बाप बिगर जीवनमुक्ति कोई दे ही नहीं सकते। आत्मायें आती रहती हैं फिर वापस कैसे जायेंगे? बाप ही आकर सर्व की सद्गति कर वापिस ले जायेंगे। सतयुग में बहुत थोड़े मनुष्य रहते हैं। आत्मा तो कभी विनाश नहीं होती है। आत्मा अविनाशी है, शरीर विनाशी है। सतयुग में आयु बड़ी होती है। दु:ख की बात नहीं। एक शरीर छोड़ दूसरा ले लेते हैं। जैसे सर्प का मिसाल है, उसको मरना नहीं कहा जाता है। दु:ख की बात नहीं। समझते हैं अब टाइम पूरा हुआ है, इस शरीर को छोड़ दूसरा लेंगे। तुम बच्चों को इस शरीर से डिटैच होने का अभ्यास यहाँ ही डालना है। हम आत्मा हैं, अब हमको घर जाना है फिर नई दुनिया में आयेंगे, नई खाल लेंगे, यह अभ्यास डालो। तुम जानते हो आत्मा 84 शरीर लेती है। मनुष्यों ने फिर 84 लाख कह दिया है। बाप के लिए तो फिर अनगिनत ठिक्कर भित्तर में कह देते हैं। उसको कहा जाता है धर्म की ग्लानि। मनुष्य स्वच्छ बुद्धि से बिल्कुल तुच्छ बन जाते हैं। अब बाप तुमको स्वच्छ बुद्धि बनाते हैं। स्वच्छ बनते हो याद से। बाप कहते हैं अब नवयुग आता है, उसकी निशानी यह महाभारत लड़ाई है। यह वही मूसलों वाली लड़ाई है, जिसमें अनेक धर्म विनाश, एक धर्म की स्थापना हुई थी, तो जरूर भगवान होगा ना। कृष्ण यहाँ कैसे आ सके? ज्ञान का सागर निराकार या कृष्ण? कृष्ण को यह ज्ञान ही नहीं होगा। यह ज्ञान ही गुम हो जाता है। तुम्हारे भी फिर भक्ति मार्ग में चित्र बनेंगे। तुम पूज्य ही पुजारी बनते हो, कला कम हो जाती है। आयु भी कम होती जाती है क्योंकि भोगी बन जाते हो। वहाँ हैं योगी। ऐसे नहीं कि किसकी याद में योग लगाते हो। वहाँ है ही पवित्र। कृष्ण को भी योगेश्वर कहते हैं। इस समय कृष्ण की आत्मा बाप के साथ योग लगा रही है। कृष्ण की आत्मा इस समय योगेश्वर है, सतयुग में योगेश्वर नहीं कहेंगे। वहाँ तो प्रिन्स बनती है। तो तुम्हारी पिछाड़ी में ऐसी अवस्था रहनी चाहिए जो सिवाए बाप के और कोई शरीर की याद न रहे। शरीर से और पुरानी दुनिया से ममत्व मिट जाए। सन्यासी रहते तो पुरानी दुनिया में हैं परन्तु घरबार से ममत्व मिटा देते हैं। ब्रह्म को ईश्वर समझ उनसे योग लगाते हैं। अपने को ब्रह्म ज्ञानी, तत्व ज्ञानी कहते हैं। समझते हैं हम ब्रह्म में लीन हो जायेंगे। बाप कहते हैं यह सब रांग है। राइट तो मैं हूँ, मुझे ही ट्रूथ कहा जाता है।

तो बाप समझाते हैं याद की यात्रा बड़ी पक्की चाहिए। ज्ञान तो बड़ा सहज है। देही-अभिमानी बनने में ही मेहनत है। बाप कहते हैं किसकी भी देह याद न आये, यह है भूतों की याद, भूत पूजा। मैं तो अशरीरी हूँ, तुमको याद करना है मुझे। इन आंखों से देखते हुए बुद्धि से बाप को याद करो। बाप के डायरेक्शन पर चलो तो धर्मराज की सजाओं से छूट जायेंगे। पावन बनेंगे तो सजायें खत्म हो जायेंगी, बड़ी भारी मंज़िल है। प्रजा बनना तो बहुत सहज है, उसमें भी साहूकार प्रजा, गरीब प्रजा कौन-कौन बन सकते हैं, सब समझाते हैं। पिछाड़ी में तुम्हारे बुद्धि का योग रहना चाहिए बाप और घर से। जैसे एक्टर्स का नाटक में पार्ट पूरा होता है तो बुद्धि घर में चली जाती है। यह है बेहद की बात। वह होती है हद की आमदनी, यह है बेहद की आमदनी। अच्छे एक्टर्स की आमदनी भी बहुत होती है ना। तो बाप कहते हैं गृहस्थ व्यवहार में रहते बुद्धियोग वहाँ लगाना है। वह आशिक-माशूक होते हैं एक-दो के। यहाँ तो सब आशिक हैं एक माशूक के। उनको ही सब याद करते हैं। वन्डरफुल मुसाफिर है ना। इस समय आये हैं सब दु:खों से छुड़ाकर सद्गति में ले जाने लिए। उनको कहा जाता है सच्चा-सच्चा माशूक। वह एक-दो के शरीर पर आशिक होते हैं, विकार की बात नहीं। उसको कहेंगे देह-अभिमान का योग। वह भूतों की याद हो गई। मनुष्य को याद करना माना 5 भूतों को, प्रकृति को याद करना। बाप कहते हैं प्रकृति को भूल मुझे याद करो। मेहनत है ना और फिर दैवीगुण भी चाहिए। कोई से बदला लेना, यह भी आसुरी गुण है। सतयुग में होता ही है एक धर्म, बदले की बात नहीं। वह है ही अद्वेत देवता धर्म जो शिवबाबा बिगर कोई स्थापन कर न सके। सूक्ष्मवतनवासी देवताओं को कहेंगे फ़रिश्ते। इस समय तुम हो ब्राह्मण फिर फ़रिश्ता बनेंगे। फिर वापिस जायेंगे घर फिर नई दुनिया में आकर दैवी गुण वाले मनुष्य अर्थात् देवता बनेंगे। अभी शूद्र से ब्राह्मण बनते हो। प्रजापिता ब्रह्मा का बच्चा न बनें तो वर्सा कैसे लेंगे। यह प्रजापिता ब्रह्मा और मम्मा, वह फिर लक्ष्मी-नारायण बनते हैं। अब देखो तुमको जैनी लोग कहते हैं हमारा जैन धर्म सबसे पुराना है। अब वास्तव में महावीर तो आदि देव ब्रह्मा को ही कहते हैं। है ब्रह्मा ही, परन्तु कोई जैन मुनि आया तो उसने महावीर नाम रख दिया। अभी तुम सब महावीर हो ना। माया पर जीत पा रहे हो। तुम सब बहादुर बनते हो। सच्चे-सच्चे महावीर-महावीरनियाँ तुम हो। तुम्हारा नाम है शिव शक्ति, शेर पर सवारी है और महारथियों की हाथी पर। फिर भी बाप कहते हैं बड़ी भारी मंजिल है। एक बाप को याद करना है तो विकर्म विनाश हों, और कोई रास्ता नहीं हैं। योगबल से तुम विश्व पर राज्य करते हो। आत्मा कहती है, अब मुझे घर जाना है, यह पुरानी दुनिया है, यह है बेहद का सन्यास। गृहस्थ व्यवहार में रहते पवित्र बनना है और चक्र को समझने से चक्रवर्ती राजा बन जायेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) धर्मराज की सजाओं से बचने के लिए किसी की भी देह को याद नहीं करना है, इन आंखों से सब कुछ देखते हुए एक बाप को याद करना है, अशरीरी बनने का अभ्यास करना है। पावन बनना है।

2) मुक्ति और जीवनमुक्ति का रास्ता सबको बताना है। अब नाटक पूरा हुआ, घर जाना है-इस स्मृति से बेहद की आमदनी जमा करनी है।

वरदान:- लक्ष्य और मंजिल को सदा स्मृति में रख तीव्र पुरूषार्थ करने वाले सदा होली और हैपी भव
ब्राह्मण जीवन का लक्ष्य है बिना कोई हद के आधार के सदा आन्तरिक खुशी में रहना। जब यह लक्ष्य बदल हद की प्राप्तियों की छोटी-छोटी गलियों में फंस जाते हो तब मंजिल से दूर हो जाते हो इसलिए कुछ भी हो जाए, हद की प्राप्तियों का त्याग भी करना पड़े तो उन्हें छोड़ दो लेकिन अविनाशी खुशी को कभी नहीं छोड़ो। होली और हैपी भव के वरदान को स्मृति में रख तीव्र पुरुषार्थ द्वारा अविनाशी प्राप्तियां करो।
स्लोगन:- गुण मूर्त बनकर गुणों का दान देते चलो-यही सबसे बड़ी सेवा है।

TODAY MURLI 17 FEBRUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 17 February 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 16 February 2019 :- Click Here

17/02/19
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
22/04/84

The u nique study and unique attainment from the unique Father, the Father without an image.

Today, the spiritual Father has come to meet His spiritual children. The spiritual Father is looking at every spirit to see how much spiritual power each one has, to what extent each soul has become an embodiment of happiness. The spiritual Father is seeing that He has given you children the treasure of imperishable happiness as your birthright and seeing to what extent each one of you has attained your inheritance and your right in your life. Have you become a child and a master of the treasures? The Father is the Bestower and He gives every child a full right. However, each child claims a right according to his power of imbibing. The Father has the one pure thought for every child: that each soul, each child, becomes full of all treasures for many births and claims a right to the full inheritance. BapDada is pleased to see how the children maintain their zeal and enthusiasm for this attainment. Each of you – whether young or old, a child, an adolescent, or an elderly person, you sweet mothers, educated ones and uneducated ones, even those who are physically weak but who are such strong souls, each of you have so much love for the one God. You have experienced that, by knowing God, you have come to know everything. BapDada always gives such experienced souls the blessing: O children, who remain absorbed in love for the Father, constantly stay alive with remembrance. Constantly continue to be sustained with the attainment of happiness and peace. Continue to swing in the swing of imperishable happiness and tell all souls of the world, your spiritual brothers and sisters, the easy way to attain happiness and peace so that they too can claim their right to their spiritual inheritance from the spiritual Father. Teach everyone this one lesson: All of us souls belong to the one Father. We belong to one family. We belong to one home. We are all playing our parts on the same stage. The original religion of all of us souls is peace and purity. You bring about self-transformation and world transformation with this lesson and this is guaranteed to happen. This is easy, is it not? It is not difficult, is it? Even uneducated ones have become knowledge-full through this lesson. This is because, by knowing the Father, the Creator, you automatically know the creation from the Creator. All of you are knowledge-full, are you not? You have studied the whole study of the Creator and creation with these three words: soul, Supreme Soul and the world cycle. What have you become with these three words? What certificate have you received? You haven’t received a certificate of B.A or M.A. You have received the title of trikaldarshi and embodiment of knowledge, have you not? What is the source of your income? What did you receive? You received a guarantee of imperishable attainment for birth after birth from the true Teacher. In fact, a teacher doesn’t guarantee that you will constantly continue to earn or that you will remain wealthy. He simply teaches you and makes you capable. You children and Godly students are to receive from the Father, the Teacher, happiness, peace, wealth, bliss, love and a happy family for 21 births in the golden and silver ages. It is not that you might receive, but that you definitely will receive this. This is a guarantee because the Father is eternal and the Teacher is eternal. Therefore, the attainment from the eternal One is also imperishable. You sing a song of happiness of how you have received a right to all attainments from the true Father and the true Teacher. This is known as the unique Father, the unique students, the unique study and the unique attainments. No matter how much someone has studied, no one can know the study and the inheritance of the unique (vichitra – without an image) Father and Teacher. You cannot take a picture of it. So, how could they know it? The Father and Teacher is the Highest on High and look what He teaches and who He teaches! He is so ordinary! It is a study to change humans into deities, to make your character good for all time. Who is it that studies? The Father is teaching those no one else can teach. What would be the big deal if the Father taught those that the world too teaches? He makes hopeless souls into souls who have hope. He makes the impossible become possible. This is why there is the praise: Only God knows His ways and means. BapDada is pleased to see the children who develop hope from having no hope. Welcome! Welcome, the decoration of the Father’s home! Achcha.

To the elevated souls who constantly consider themselves to have a right to experience elevated attainments, to the children who are embodiments of knowledge and who inspire others to gain attainments for many births in this one birth, to the elevated children who study and teach the one lesson, to the fortunate children who are constantly sustained by the blessings of the Father, the Bestower of Blessings, love, remembrance and namaste.

The present Brahmin life is worth diamonds.

Today, BapDada is seeing His most elevated children. In comparison to the tamoguni, impure souls of the world, you are such elevated souls. All souls in the world are calling out, wandering around and lacking attainment. No matter how many perishable attainments they have, they definitely lack something or other. You Brahmin children, you children of the Bestower of all Attainments, lack nothing. You are constant embodiments of attainment. Although you don’t have the facilities for temporary happiness, temporary comforts or a right to a temporary kingdom, you are emperors who don’t have even a shell. You are carefree emperors. You are conquerors of Maya and conquerors of matter who have a right to self-sovereignty. You are those who are constantly sustained by God’s sustenance, who swing in the swings of happiness and the swings of supersensuous joy. Instead of being wealthy with perishable wealth, you are wealthy with imperishable wealth. You don’t have a crown studded with jewels, but you are a crown on God the Father’s head. You don’t have any jewel-studded decoration, but you are constantly decorated with the decoration of the jewels of knowledge and virtues. No matter how big or precious a perishable diamond may be or how valuable it may be, what is its value compared with one jewel of knowledge or one jewel of virtue? In front of these jewels, that is like stone because it is perishable. Compared with the necklace of 900,000, you yourselves have become a necklace around the Father’s neck. In comparison to being a necklace around God’s neck, necklaces worth 900,000 or even nine times or countless times multi-millions are worth nothing. Thirty six varieties of food are nothing in comparison to Brahma bhojan, because you offer this food directly to BapDada and make it into Godly prasad. Even in this last birth, devotee souls place so much value on prasad. You do not eat ordinary food. You eat Prabhu prasad of which each grain is more precious than multi-millions. You are the most elevated souls. Do you have such elevated, spiritual intoxication? You don’t forget your greatness whilst moving along, do you? You don’t consider yourselves to be ordinary, do you? You are not those who just listen or speak, are you? Have you become those who have self-respect? There are countless who just listen or speak. Those who have self-respect are a handful out of multi-millions. Who are you? Are you those who are one of the many or are you one of those who are a handful out of multi-millions? What kind of sense would BapDada say a child who is careless at the time of attaining has? If you don’t experience the fortune you have attained and received, that is, if you don’t become greatly fortunate at this time, then when would you become this? At the confluence age, this time of elevated attainment, constantly remember this slogan: If not now, then never! Do you understand? Achcha.

Today, Gujarat zone has come. What is the speciality of Gujarat? The speciality of Gujarat is that young and old, all definitely dance in happiness. Everyone forgets being physically little or large. They all become engrossed in their love of the dance. They remain engrossed in this throughout the night. So, just as you remain absorbed in dancing in love, in the same way, you also remain absorbed in the dance of the happiness of knowledge, do you not? You are number onein having the practice of staying lost in this imperishable love, are you not? There is good expansion. This time, both zones that are close to the main place (Madhuban) have come. On one side is Gujarat and on the other side is Rajasthan. Both are close. The whole of the task is connected with Gujarat and Rajasthan. So, according to the drama, both places have received a golden chance to be co-operative. Both have been close and co-operative in every task. The kingdom of sovereignty of the confluence age is in Rajasthan, is it not? How many kings have you prepared? The kings of Rajasthan have been remembered. So, are the kings ready or are you becoming ready? The kings’ processions take place in Rajasthan. So, let those from Rajasthan prepare and bring a full procession. Only then will everyone shower flowers. They have that procession with a lot of splendour. So, how many of the kings’ procession will come? At least one king of wherever there is a centre has to come, and so there will be so many kings. If 25 kings came from 25 places, it would be a beautiful procession. According to the drama, the throne of service is in Rajasthan. So, Rajasthan also has a special part. It was in Rajasthan that the special horses for service emerged. The part is fixed in the drama, it just has to be repeated.

There is also a lot of expansion in Karnataka. Now, those from Karnataka have to go from expansion to essence. When milk is churned for butter, there is first a lot of expansion (quantity), and then the butter is extracted from the essence. So, those from Karnataka have to extract butter from the expansion. Become an embodiment of the essence and make others that. Achcha.

To those who remain stable in their elevated self-respect, to those who are treasure-stores of all attainments, to the souls who constantly have a right to the great fortune of elevated self-sovereignty of the confluence age, to the souls who are embodiments of spiritual intoxication and happiness, BapDada’s love, remembrance and namaste.

BapDada meeting groups:

Do all of you consider yourselves to be the elevated souls who have a right to self-sovereignty? Have you received a right to self-sovereignty? Such souls who have a right would be powerful, would they not? A kingdom is said to be an authority. An authority means power. Even the Government of today is said to be the party who has the authority of the kingdom (government). So the authority of the kingdom means power. So self-sovereignty is such a great power. Have you attained such power? Are all your physical organs working according to your powers? A king always summons the court of his kingdom and asks everyone how the kingdom is functioning. So, do the activities of you kings who have a right to self-sovereignty go well? Or, are there ups and downs? None of the workers in your kingdom deceive you, do they? Sometimes the eyes deceive you, sometimes the ears deceive you, sometimes your hands deceive you and sometimes your feet deceive you. You aren’t deceived in this way, are you? If the authority of the kingdom is fine, then there is an income of multi-millions in every thought at every second. If the authority of the kingdom is not fine, an income of multi-millions is lost at every second. Since the attainment is multi-million fold for one, if you lose, you also lose multi-million fold for just one. However much you receive, you also lose just as much. There is a proper account. So check the activities of your kingdom for the whole day. Have your eyes, your advisors, worked well? Have your ears, your advisors, worked well? Was everyone’s department fine or not? Do you check this or do you become tired and simply go to sleep? In fact, before you perform any act, you have to checkyourself and then perform that act. First think and then act. Let it not be that you first act and then think. To get a total result is a different matter, but a knowledgeable soul will first think and then act. So, do you perform every act after careful consideration? Are you those who think first or those who think afterwards? If a knowledgeable soul thinks afterwards, he cannot be called knowledgeable. This is why you are constantly the souls who have a right to self-sovereignty. With a right to this self-sovereignty, you definitely have to become those who have a right to the kingdom of the world. There is no question as to whether you will become this or not. If you have self-sovereignty, you definitely also have the kingdom (sovereignty) of the world. So there are no complications in your self-sovereignty, are there? From the copper age onwards, you have been going around places of complications. You have now left that place of complications. Now, never ever step foot in any place of complication. This is such a place of complication, that if you place your foot in it once, it becomes like a maze, and then it is difficult to come out of it. Therefore, always follow the one path. There are no complications in just one. Those who follow the one path are always happy and content.

BapDada meeting a High Court Judge from Bangalore:

Where are you? And what are you experiencing? Experience is the biggest authority of all. The first experience is of being soul conscious. When you have the experience of being soul conscious, you automatically experience God’s love and Godly attainment. The more experience you have, the more powerful you become. You are someone who gives a judgement that grants liberation from the sorrow of many births, are you not? Or, are you a judge who gives a judgement that liberates someone from the sorrow of just one birth? That is being a Judge of the High Court or the Supreme Court. This is being a spiritualjudge. There is no need to study or give time to becoming this kind of judge. You just have to study two words: soul and Supreme Soul. That’s all! If you experience this, you become a spiritual judge. The Father is the One who liberates everyone from the sorrow of many births and this is why He is called the Bestower of Happiness. So, as is the Father, so are the children. By becoming a double judge, you will become an instrument to benefit many souls. They will come for one case and they will go back having won the case for many births. They will be very happy. So, the Father’s instruction is: Become a spiritual judge. Achcha.

Blessing: May you be an embodiment of success who keeps the Almighty Authority Father combined with you.
The children who are combined with the Almighty Authority Father have a right to all powers. Where there are all powers, it is impossible for there not to be success. If you do not remain constantly combined with the Father then the success is also less. When you constantly keep the imperishable Companion who always fulfils the responsibility of companionship combined with you, success is then your birthright because success is always in front of and behind those who are master almighty authorities.
Slogan: True Vaishnavs are those who do not even touch the dirt of vice.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 17 FEBRUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 17 February 2019

To Read Murli 16 February 2019 :- Click Here
17-02-19
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 22-04-84 मधुबन

विचित्र बाप द्वारा विचित्र पढ़ाई तथा विचित्र प्राप्ति

आज रूहानी बाप अपने रूहानी बच्चों से मिलने आये हैं। रूहानी बाप हर-एक रूह को देख रहे हैं कि हर-एक में कितनी रूहानी शक्ति भरी हुई है! हर एक आत्मा कितनी खुशी स्वरूप बनी है! रूहानी बाप अविनाशी खुशी का खजाना बच्चों को जन्म-सिद्ध अधिकार में दिया हुआ देख रहे हैं कि हरेक ने अपना वर्सा, अधिकार कहाँ तक जीवन में प्राप्त किया है! खजाने के बालक सो मालिक बने हैं? बाप दाता है, सभी बच्चों को पूरा ही अधिकार देते हैं। लेकिन हर एक बच्चा अपनी-अपनी धारणा की शक्ति प्रमाण अधिकारी बनता है। बाप का तो सभी बच्चों के प्रति एक ही शुभ संकल्प है कि हर एक आत्मा रूपी बच्चा सदा सर्व खजानों से सम्पन्न अनेक जन्मों के लिए सम्पूर्ण वर्से के अधिकारी बन जाए। ऐसे प्राप्ति करने के उमंग-उत्साह में रहने वाले बच्चों को देख बापदादा भी हर्षित होते हैं। हर एक छोटा-बड़ा, बच्चा, युवा वा वृद्ध, मीठी-मीठी मातायें, अनपढ़ या पढ़े हुए, शरीर से निर्बल फिर भी आत्मायें कितनी बलवान हैं! एक परमात्मा की लगन कितनी है! अनुभव है कि हमने परमात्मा बाप को जाना, सब कुछ जाना। बापदादा भी ऐसे अनुभवी आत्माओं को सदा यही वरदान देते हैं – हे लगन में मगन रहने वाले बच्चे, सदा याद में जीते रहो। सदा सुख शान्ति की प्राप्ति में पलते रहो। अविनाशी खुशी के झूले में झूलते रहो और विश्व की सभी आत्माओं रूपी अपने रूहानी भाईयों को सुख-शान्ति का सहज साधन सुनाते हुए, उन्हों को भी रूहानी बाप के रूहानी वर्से के अधिकारी बनाओ। यही एक पाठ सभी को पढ़ाओ – हम सब आत्मायें एक बाप के हैं, एक ही परिवार के हैं, एक ही घर के हैं। एक ही सृष्टि मंच पर पार्ट बजाने वाले हैं। हम सर्व आत्माओं का एक ही स्वधर्म शान्ति और पवित्रता है। बस इसी पाठ से स्व परिवर्तन और विश्व परिवर्तन कर रहे हो और निश्चित होना ही है। सहज बात है ना। मुश्किल तो नहीं। अनपढ़ भी इस पाठ से नॉलेजफुल बन गये हैं क्योंकि रचयिता बीज को जान, रचयिता द्वारा रचना को स्वत: ही जान जाते। सभी नॉलेजफुल हो ना! सारी पढ़ाई रचता और रचना की सिर्फ तीन शब्दों में पढ़ ली है। आत्मा, परमात्मा और सृष्टि पा। इन तीनों शब्दों से क्या बन गये हो! कौन-सा सर्टीफिकेट मिला है? बी.ए., एम.ए. का सर्टिफिकेट तो नहीं मिला। लेकिन त्रिकालदर्शी, ज्ञान स्वरूप यह टाइटल तो मिले हैं ना। और सोर्स आफ इनकम क्या हुआ? क्या मिला? सत शिक्षक द्वारा अविनाशी जन्म-जन्म सर्व प्राप्ति की गैरन्टी मिली है। वैसे टीचर गैरन्टी नहीं देता कि सदा कमाते रहेंगे वा धनवान रहेंगे। वह सिर्फ पढ़ाकर योग्य बना देते हैं। तुम बच्चों को वा गाडली स्टूडेन्ट को बाप शिक्षक द्वारा, वर्तमान के आधार से 21 जन्म सतयुग त्रेता के सदा ही सुख, शान्ति, सम्पत्ति, आनन्द, प्रेम, सुखदाई परिवार मिलना ही है। मिलेगा नहीं, मिलना ही है। यह गैरन्टी है क्योंकि अविनाशी बाप है, अविनाशी शिक्षक है। तो अविनाशी द्वारा प्राप्ति भी अविनाशी है। यही खुशी के गीत गाते हो ना कि हमें सत बाप, सत शिक्षक द्वारा सर्व प्राप्ति का अधिकार मिल गया। इसी को ही कहा जाता है विचित्र बाप, विचित्र स्टूडेन्टस और विचित्र पढ़ाई वा विचित्र प्राप्ति। जो कोई भी कितना भी पढ़ा हुआ हो लेकिन इस विचित्र बाप और शिक्षक की पढ़ाई वा वर्से को जान नहीं सकते। चित्र निकाल नहीं सकते। जाने भी कैसे। इतना बड़ा ऊंचे ते ऊंचा बाप, शिक्षक और पढ़ाता कहाँ और किसको है! कितने साधारण हैं! मानव से देवता बनाने की, सदा के लिए चरित्रवान बनाने की पढ़ाई है और पढ़ने वाले कौन हैं? जिसको कोई नहीं पढ़ा सकते उनको बाप पढ़ाते हैं। जिसको दुनिया पढ़ा सकती, बाप भी उन्हों को ही पढ़ावे तो क्या बड़ी बात हुई। ना उम्मींद आत्माओं को ही उम्मींदवार बनाते हैं। असम्भव को सम्भव कराते हैं, इसलिए ही गायन है तुम्हारी गत मत तुम ही जानो। बापदादा ऐसे नाउम्मींद से उम्मीदवार बनने वाले बच्चों को देख खुश होते हैं। भले आये। बाप के घर के श्रृंगार भले पधारे। अच्छा!

सदा स्वयं को श्रेष्ठ प्राप्ति के अधिकारी अनुभव करने वाली श्रेष्ठ आत्माओं को, एक जन्म में अनेक जन्मों की प्राप्ति कराने वाले ज्ञान स्वरूप बच्चों को, सदा एक पाठ पढ़ने और पढ़ाने वाले श्रेष्ठ बच्चों को, सदा वरदाता बाप के वरदानों में पलने वाले भाग्यवान बच्चों को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

17-02-19 प्रात:मुरली ओम् शान्ति “अव्यक्त-बापदादा” रिवाइज 24-04-84 मधुबन

वर्तमान ब्राह्मण जन्म – हीरे तुल्य

आज बापदादा अपने सर्व श्रेष्ठ बच्चों को देख रहे हैं। विश्व की तमोगुणी अपवित्र आत्माओं के अन्तर में कितनी श्रेष्ठ आत्मायें हैं। दुनिया में सर्व आत्मायें पुकारने वाली हैं, भटकने वाली, अप्राप्त आत्मायें हैं। कितनी भी विनाशी सर्व प्राप्तियाँ हो फिर भी कोई न कोई अप्राप्ति जरूर होगी। आप ब्राह्मण बच्चों को सर्व प्राप्तियों के दाता के बच्चों को अप्राप्त कोई वस्तु नहीं। सदा प्राप्ति स्वरूप हो। अल्पकाल के सुख के साधन अल्पकाल के वैभव, अल्पकाल का राज्य अधिकार नहीं होते हुए भी बिन कौड़ी बादशाह हो। बेफिकर बादशाह हो। मायाजीत, प्रकृतिजीत स्वराज्य अधिकारी हो। सदा ईश्वरीय पालना में पलने वाले खुशी के झूले में, अतीन्द्रिय सुख के झूले में झूलने वाले हो। विनाशी सम्पत्ति के बजाए अविनाशी सम्पत्तिवान हो। रतन जड़ित ताज नहीं लेकिन परमात्म बाप के सिर के ताज हो। रतन जड़ित श्रृंगार नहीं लेकिन ज्ञान रत्नों, गुणों रूपी रत्नों के श्रृंगार से सदा श्रृंगारे हुए हो। कितना भी बड़ा विनाशी सर्व श्रेष्ठ हीरा हो, मूल्यवान हो लेकिन एक ज्ञान के रत्न, गुण के रत्न के आगे उनकी क्या वैल्यु है? इन रत्नों के आगे वह पत्थर के समान हैं क्योंकि विनाशी हैं। नौ लखे हार के आगे भी आप स्वयं बाप के गले का हार बन गये हो। प्रभु के गले के हार के आगे नौ लाख कहो वा नौ पदम कहो वा अनगिनत पदम के मूल्य का हार कुछ भी नहीं है। 36 प्रकार का भोजन भी इस ब्रह्मा भोजन के आगे कुछ नहीं है क्योंकि डायरेक्ट बापदादा को भोग लगाकर इस भोजन को परमात्म प्रसाद बना देते हो। प्रसाद की वैल्यु आज अन्तिम जन्म में भी भक्त आत्माओं के पास कितनी है? आप साधारण भोजन नहीं खाते। प्रभु प्रसाद खा रहे हो। जो एक-एक दाना पदमों से भी श्रेष्ठ है। ऐसी सर्व श्रेष्ठ आत्मायें हो। ऐसा रूहानी श्रेष्ठ नशा रहता है। चलते-चलते अपनी श्रेष्ठता को भूल तो नहीं जाते हो? अपने को साघारण तो नहीं समझते हो? सिर्फ सुनने वाले या सुनाने वाले तो नहीं! स्वमान वाले बने हो? सुनने सुनाने वाले तो अनेकानेक हैं। स्वमान वाले कोटों में कोई हैं। आप कौन हो? अनेकों में हो वा कोटों में कोई वालों में हो? प्राप्ति के समय पर अलबेला बनना, उन्हों को बापदादा कौन सी समझ वाले बच्चे कहें? पाये हुए भाग्य को, मिले हुए भाग्य को अनुभव नहीं किया अर्थात् अभी महान भाग्यवान नहीं बने तो कब बनेंगे? इस श्रेष्ठ प्राप्ति के संगमयुग पर हर कदम यह स्लोगन सदा याद रखो कि ‘अब नहीं तो कब नहीं” समझा। अच्छा!

अभी गुजरात जोन आया है। गुजरात की क्या विशेषता है? गुजरात की यह विशेषता है – छोटा बड़ा खुशी में जरूर नाचते हैं। अपना छोटा-पन, मोटा पन सभी भूल जाते हैं। रास के लगन में मगन हो जाते। सारी-सारी रात भी मगन रहते हैं। तो जैसे रास की लगन में मगन रहते, ऐसे सदा ज्ञान की खुशी की रास में भी मगन रहते हो ना! इस अविनाशी लगन में मगन रहने के भी नम्बरवन अभ्यासी हो ना! विस्तार भी अच्छा है। इस बारी मुख्य स्थान (मधुबन) के समीप के साथी दोनों ज़ोन आये हैं। एक तरफ है गुजरात, दूसरे तरफ है राजस्थान। दोनों समीप हैं ना। सारे कार्य का सम्बन्ध राजस्थान और गुजरात से है। तो ड्रामा अनुसार दोनों स्थानों को सहयोगी बनने का गोल्डन चांस मिला हुआ है। दोनों हर कार्य में समीप और सहयोगी बने हुए हैं। संगमयुग के स्वराज्य की राजगद्दी तो राजस्थान में है ना! कितने राजे तैयार किये हैं? राजस्थान के राजे गाये हुए हैं। तो राजे तैयार हो गये हैं या हो रहे हैं? राजस्थान में राजाओं की सवारियाँ निकलती हैं। तो राजस्थान वालों को ऐसा पूरी सवारी तैयार कर लानी चाहिए तब तो सब पुष्पों की वर्षा करेंगे ना। बहुत ठाठ से सवारी निकालते हैं। तो कितने राजाओं की सवारी आयेगी? कम से कम जहाँ सेवाकेन्द्र है वहाँ का एक-एक राजा आवे तो कितने राज़े हो जायेंगे। 25 स्थानों के 25 राजे आवें तो सवारी सुन्दर हो जायेगी ना! ड्रामा अनुसार राजस्थान में ही सेवा की गद्दी बनी है। तो राजस्थान का भी विशेष पार्ट है। राजस्थान से ही विशेष सेवा के घोड़े भी निकले हैं ना। ड्रामा में पार्ट है सिर्फ इनको रिपीट करना है।

कर्नाटक का भी विस्तार बहुत हो गया है। अब कर्नाटक वालों को विस्तार से सार निकलना पड़े। जब मक्खन निकालते हैं तो पहले तो विस्तार होता है फिर उससे मक्खन सार निकलता है। तो कर्नाटक को भी विस्तार से अब मक्खन निकालना है। सार स्वरूप बनना और बनाना है। अच्छा!

अपने श्रेष्ठ स्वमान में स्थित रहने वाले, सर्व प्राप्तियों के भण्डार सदा संगमयुगी श्रेष्ठ स्वराज्य और महान भाग्य के अधिकारी आत्माओं को, सदा रूहानी नशे और खुशी स्वरूप आत्माओं को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

पार्टियों से:- सभी अपने को स्वराज्य अधिकारी श्रेष्ठ आत्मायें समझते हो? स्वराज्य का अधिकार मिल गया? ऐसी अधिकारी आत्मायें शक्तिशाली होंगी ना। राज्य को सत्ता कहा जाता है। सत्ता अर्थात् शक्ति। आजकल की गवर्मेन्ट को भी कहते हैं – राज्य सत्ता वाली पार्टी है। तो राज्य की सत्ता अर्थात् शक्ति है। तो स्वराज्य कितनी बड़ी शक्ति है? ऐसी शक्ति प्राप्त हुई है? सभी कर्मेन्द्रियाँ आपकी शक्ति प्रमाण कार्य कर रही हैं? राजा सदा अपनी राज्य सभा को, राज्य दरबार को बुलाकर पूछते हैं कि कैसे राज्य चल रहा है? तो आप स्वराज्य अधिकारी राजाओं की कारोबार ठीक चल रही है? या कहाँ नीचे ऊपर होता है? कभी कोई राज्य कारोबारी धोखा तो नहीं देते हैं। कभी ऑख धोखा दे, कभी कान धोखा दें, कभी हाथ, कभी पांव धोखा दें। ऐसे धोखा तो नहीं खाते हो! अगर राज्य सत्ता ठीक है तो हर संकल्प हर सेकण्ड में पदमों की कमाई है। अगर राज्य सत्ता ठीक नहीं है तो हर सेकण्ड में पदमों की गँवाई होती है। प्राप्ति भी एक की पदमगुणा है और फिर अगर गँवाते हैं तो एक का पदमगुणा गँवाते हो। जितना मिलता है – उतना जाता भी है। हिसाब है। तो सारे दिन की राज्य कारोबार को देखो। ऑख रूपी मंत्री ने ठीक काम किया? कान रूपी मंत्री ने ठीक काम किया? सबकी डिपार्टमेन्ट ठीक रही या नहीं? यह चेक करते हो या थककर सो जाते हो? वैसे कर्म करने से पहले ही चेक कर फिर कर्म करना है। पहले सोचना फिर करना। पहले करना पीछे सोचना, यह नहीं। टोटल रिजल्ट निकालना अलग बात है लेकिन ज्ञानी आत्मा पहले सोचेगी फिर करेगी। तो सोच-समझ कर हर कर्म करते हो? पहले सोचने वाले हो या पीछे सोचने वाले हो? अगर ज्ञानी पीछे सोचे उसको ज्ञानी नहीं कहेंगे इसलिए सदा स्वराज्य अधिकारी आत्मायें हैं और इसी स्वराज्य के अधिकार से विश्व के राज्य अधिकारी बनना ही है। बनेंगे या नहीं – यह क्वेश्चन नहीं। स्वराज्य है तो विश्व राज्य है ही। तो स्वराज्य में गड़बड़ तो नहीं है ना? द्वापर से तो गड़बड़ शालाओं में चक्र लगाते रहे। अब गड़बड़ शाला से निकल आये, अभी फिर कभी भी किसी भी प्रकार की गड़बड़ शाला में पांव नहीं रखना। यह ऐसी गड़बड़ शाला है – एक बार पांव रखा तो भूल भुलैया का खेल है। फिर निकलना मुश्किल हो जाता इसलिए सदा एक रास्ता, एक में गड़बड़ नहीं होती। एक रास्ते पर चलने वाले सदा खुश, सदा सन्तुष्ट।

बैंगलोर हाईकोर्ट के जस्टिस से अव्यक्त बापदादा की मुलाकात:-

किस स्थान पर और क्या अनुभव कर रहे हो? अनुभव सबसे बड़ी अथॉरिटी है। सबसे पहला अनुभव है आत्म-अभिमानी बनने का। जब आत्म-अभिमानी का अनुभव हो जाता है तो परमात्म प्यार, परमात्म प्राप्ति का भी अनुभव स्वत: हो जाता है। जितना अनुभव उतना शक्तिशाली। जन्म-जन्मान्तर के दु:खों से छुड़ाने की जजमेन्ट देने वाले हो ना! या एक ही जन्म के दु:खों से छुड़ाने वाले जज हो? वह तो हुए हाईकोर्ट या सुप्रीमकोर्ट का जज। यह है प्रिचुअल जज। इस जज बनने में पढ़ाई की वा समय की आवश्यकता नहीं है। दो अक्षर ही पढ़ने हैं – आत्मा और परमात्मा। बस। इसके अनुभवी बन गये तो प्रिचुअल जज बन गये। जैसे बाप जन्म-जन्म के दु:खों से छुड़ाने वाले हैं, इसलिए बाप को सुख का दाता कहते हैं, तो जैसा बाप वैसे बच्चे। डबल जज बनने से अनेक आत्माओं के कल्याण के निमित्त बन जायेंगे। आयेंगे एक केस के लिए और जन्म-जन्म के केस जीत-कर जायेंगे। बहुत खुश होंगे। तो बाप की आज्ञा है – प्रीचुअल जज बनो। अच्छा – ओम् शान्ति।

वरदान:- सर्वशक्तिमान बाप को कम्बाइन्ड रूप में साथ रखने वाले सफलता-मूर्त भव 
जिन बच्चों के साथ सर्व शक्तिमान बाप कम्बाइन्ड है – उनका सर्वशक्तियों पर अधिकार है और जहाँ सर्व शक्तियां हैं वहाँ सफलता न हो, यह असम्भव है। यदि सदा बाप से कम्बाइन्ड रहने में कमी है तो सफलता भी कम होती है। सदा साथ निभाने वाले अविनाशी साथी को कम्बाइन्ड रखो तो सफलता जन्म सिद्ध अधिकार है क्योंकि सफलता मास्टर सर्वशक्तिमान के आगे-पीछे घूमती है।
स्लोगन:- सच्चे वैष्णव वह हैं जो विकारों रूपी गन्दगी को छूते भी नहीं।
Font Resize