16 september ki murli

TODAY MURLI 16 SEPTEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 16 September 2020

16/09/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father has come to remove everyone’s sorrow and give them happiness. Therefore, since you are the children of the Remover of Sorrow, you mustn’t cause anyone sorrow.
Question: What are the main signs of the children who are to claim an elevated status?
Answer: 1) They always follow shrimat.
2) They are never stubborn about anything.
3) They study by themselves and gallop ahead to give themselves a tilak of sovereignty.
4) They never cause themselves a loss.
5) They are merciful and benevolent to everyone. They are very interested in doing service.
6) They do not perform any degraded act. They do not fight or quarrel.
Song: You wasted the night in sleeping and the day in eating.

Om shanti. The spiritual children are sitting in front of the spiritual Father. Only you children understand this language; no one new can understand it. No one else says “O spiritual children”. No one else would even know how to say this. You know that you are sitting in front of the spiritual Father, the Father whom no one really knows accurately. Although you do understand that you are brother souls, that you are all souls and that the Father is One, no one really knows this accurately. Until you come here personally to understand, how could you understand? It is only when you also come personally in front of the Father that you are able to understand. You are Brahmins. Your surname is: Brahma Kumars and Brahma Kumaris of the Brahmin clan. All souls belong to Shiva. You are not called Shiv Kumars or Shiv Kumaris. Those words are wrong. There are both kumars and kumaris. As souls, you all belong to Shiva. When you become children of human beings, you are called kumars and kumaris. The children of Shiva are, of course, incorporeal souls. Only souls, who are called saligrams, reside in the soul world. When you come here, you become physical kumars and kumaris. You are, in fact, kumars, children of Shiv Baba. You become kumars and kumaris when you enter bodies. You are Brahma Kumars and Kumaris and that is why you are called brothers and sisters. It is at this time that you receive this knowledge. You know that Baba will make us pure and take us back with Him. To the extent that souls remember the Father, they will accordingly become pure. You souls study this knowledge given through the mouth of Brahma. The knowledge of the Father is also clear in the pictures. Shiv Baba, Himself, is teaching us. Neither does Krishna teach us nor can the Father teach us through Krishna. Krishna is the prince of heaven. You children also have to explain this. Krishna is a child of his parents in the golden age. He is a child of a golden-aged father. He is the prince of Paradise. No one knows him. On the birthday of Krishna, people make a swing for him in their own homes and in the temples. Mothers go to a temple and put money in the box there and carry out their worship. These days, Christ is portrayed in the same way as Krishna: He is crowned etc. and put in his mother’s lap just as Krishna is portrayed. The names “Krishna” and “Christ” sound similar, but there is a lot of difference between the birth of Krishna and the birth of Christ. The birth of the Christ soul is not in the form of a baby. The Christ soul comes and enters someone else. He cannot be born through vice. Previously, they never portrayed Christ as a young child; they always portrayed him on a cross. Now they show him in this way. You children know that no one who establishes a religion can be killed in that way. So, whom did they kill? The one whose body he entered received the pain. How could a satopradhan soul receive pain? What karma could he have done to receive so much pain? Souls come in a satopradhan (completely pure) state. Everyone’s accounts have to be settled. The Father now makes everyone pure. A completely pure (satopradhan) soul cannot come from there and experience pain. It is the soul that undergoes suffering. It is when a soul is in his body that he experiences pain and sorrow. Who said, “I feel pain”? The one living in the body. They say that the Supreme Soul is within everyone. However, He is hardly going to say “I feel pain”. How could the Supreme Soul be present in everyone? How could the Supreme Soul suffer pain? Souls call out: O Supreme Father, Supreme Soul, remove our suffering! It is the parlokik Father to whom souls call out. You know that the Father has now come and that He is showing you the way to have your suffering removed. You souls become everhealthy and wealthy when you are in bodies. You would not say “healthy and wealthy” in the soul world. There, there is no world. There, there is just peace. There, you are in the state of the original religion of peace. The Father has now come to remove everyone’s pain and give them happiness. So, He says to the children: You have become Mine. Therefore, don’t hurt anyone. This is a battlefield, but it is incognito. The other is visible. You have to explain the meaning of the saying: Those who die on this battlefield will go to heaven. Look how important this battle is! You children know that no one can go to heaven by dying in any other battle. In the Gita it says: God speaks. You do believe Him, do you not? To whom did God speak? Did He say this to those who were engaged in that battle or did He say it to you? He says it to both. They too are told: Consider yourselves to be souls and remember the Father! This service also has to be done. If you want to go to heaven, you must make effort! There are those of all religions in a war. There are Sikhs as well. They will go into the Sikh religion. It is only possible for them to go to heaven if they come and take knowledge from you Brahmins. When they used to come to Baba, Baba would explain that if they remained in remembrance of Shiv Baba while fighting they would be able to go to heaven. However, it isn’t that they will become a king in heaven; no. Not much more can be explained to them. Only a little knowledge can be explained to them. When they are on a battlefield, they definitely remember their favourite deity. If someone is a Sikh, he would say: Victory to Guru Govinda. No one remembers the Supreme Soul while considering himself to be a soul. However, those who accept the Father’s introduction will go to heaven. The Father of all is the same One, the Purifier. He says to the impure: By remembering Me, your sins will be cut away and you will go to the land of happiness that I am establishing. If you remember Shiv Baba while in this battle you do go to heaven. That battlefield is different from this one. The Father says: This knowledge can never be destroyed. All are Shiv Baba’s children. Now, Shiv Baba says: By remembering Me alone, you will come to Me in the land of liberation. By studying this knowledge now being taught, you can claim the kingdom of heaven. It is so easy! You find the path to heaven in a second. I, a soul, am remembering the Father. Go onto the battlefield in this happiness! We do have to act. Everything has to be done to save one’s country. There, there is just one religion. You never hear of any difference of opinion there. Here, there are so many differences of opinion. There are quarrels over water and land. If their water supply is cut off they start to throw stones. If they don’t give grain to one or another, there is a quarrel. You children know that we are establishing our self-sovereignty. It is through this study that we attain the kingdom. A new world definitely has to be established; it is destined. You should have so much happiness! There is no need to fight or quarrel over anything. We have to live very simply. Baba has explained that you are going to your in-laws’ home and that this is why you are now in exile. All souls will go; the bodies will not go. The ego of the body has to be broken. We are souls and our 84 births are now ending. Tell the people of Bharat that Bharat used to be heaven and that it is now the iron age. In the iron age there are innumerable religions. In the golden age there is only one religion. Bharat is once again becoming heaven. Some people do understand that God has come. As you make progress, they will predict the future. They will see the atmosphere, will they not? Therefore, the Father explains to you children. The Father belongs to everyone. Everyone has a right over Him. The Father says: Now that I have come, I tell you all to remember Me alone so that your sins can be absolved. Human beings understand that war can now break out at any time. It could even break out tomorrow. It doesn’t take time for war to gather force. However, you children understand that our kingdom has not yet been established. Therefore, how can destruction take place yet? As yet, you have not given the Father’s message to everyone in all four directions. The Purifier Father says: Remember Me and your sins will be absolved. This message must reach everyone’s ears. Even if war does break out and bombs explode, you have the faith that our kingdom is definitely going to be established, that destruction cannot take place until then. People say that there has to be peace in the world, that if there is a world war the world would be destroyed. This is a spiritual university; you give knowledge to the whole world. Only the one Father comes and transforms the world. Those people say that the cycle is millions of years old. You know that its age is 5000 years. It is said that there was heaven 3000 years before Christ. They calculate the ages of Islam and Buddhism. There is no mention of anyone else before those two religions. You can reveal everything accurately date by date. Therefore, you should have so much intoxication! There is no question of quarrelling. Those who are orphans are the ones who quarrel. Whatever effort you make now will become your reward for 21 births. If you fight or quarrel, you do not claim an elevated status. You also have to experience punishment. Whatever it is, whatever you need, come to the Father! The Government also says: Don’t take the law into your own hands! Some of you say that you would like shoes from abroad. Baba says: Children, you are now in exile. There, you will receive many very good things. The Father will only tell you what is rightHe would say: This is not right. Why do you keep longing for such things here? You have to live very simply here. Otherwise, there will be body consciousness. You must not follow your own dictates in this. Baba says: If you are unwell you can call a doctor. Everyone can be treated with medicine. However, the Father is here in any case. Shrimat is shrimat after all! Where there is faith, there is victory. You understand all of this. There is benefit in following the Father’s advice. We have to benefit ourselves as well. If you can’t make someone else worth a pound, then you yourself still remain not worth a penny and not worthy of becoming a pound. If you have no value here, you will be of no value there. Serviceable children are very interested in doing service. They keep touring around. If you don’t do service, you cannot be called a benefactor or merciful. If you don’t remember Baba you continue to perform degraded acts and you will claim a low status. It isn’t that you have yoga with Shiv Baba anyway or that you are a BK anyway. It is only through Brahma Baba that Shiv Baba gives you knowledge. If you only remember Shiv Baba, how would you listen to the murli and what would the result of that be? If you don’t study, what status would you claim? You also know that not everyone can have an elevated fortune. There, too, the status will be numberwise. Everyone has to become pure. Souls cannot go to the land of peace without becoming pure. The Father says: Continue to give this knowledge to everyone. If someone doesn’t listen to it now, he will definitely listen to it in the future. Now, no matter how many obstacles and storms come with great force, you must not be afraid, because a new religion is being established. You are establishing an incognito kingdom. Baba is pleased to see the serviceable children. You have to follow shrimat and give yourself a tilak of sovereignty. You must not be stubborn about this. Don’t allow yourself to experience a loss for no reason. The Father says: Children, become serviceable and benevolent. The Teacher tells you students: Study well and gallop ahead! You are to receive the scholarship of heaven for 21 births. To go into this dynasty is in itself a great scholarship. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and Good morning from the Mother, the Father BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Remain very simple and ordinary at this confluence age because this is the time to remain in exile. Don’t have any expectations here. Never take the law into your own hands. Never fight or quarrel.
  2. In order to establish the new kingdom before destruction takes place, give everyone the Father’s message: “The Father says: Remember Me and your sins will be absolved and you will become pure.”
Blessing: May you always be obedient and receive the tilak of success from the Father while seated on the heart-throne.
Every day at amrit vela, the Father, the Bestower of Fortune, gives the tilak of success to all His obedient children. Obedient Brahmin children cannot use the words “hard work” or “difficult” in their speech or even in their thoughts. They become easy yogis and so they never become disheartened, but are always seated on the heart-throne and are merciful. They finish any consciousness of “I” or any feeling of doubt.
Slogan: Do not think about the date of world transformation, but fix the moment of your own transformation.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 16 SEPTEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 16 September 2020

Murli Pdf for Print : – 

16-09-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
”मीठे बच्चे – बाप आये हैं सबके दु:ख हर कर सुख देने, इसलिए तुम दु:ख हर्ता के बच्चे किसी को भी दु:ख मत दो”
प्रश्नः- ऊंच पद पाने वाले बच्चों की मुख्य निशानी क्या होगी?
उत्तर:- 1- वे सदा श्रीमत पर चलते रहेंगे। 2- कभी हठ नहीं करेंगे। 3- अपने को आपेही राजतिलक देने के लिए पढ़ाई पढ़कर गैलप करेंगे। 4- अपने को कभी घाटा नहीं डालेंगे। 5- सर्व प्रति रहमदिल और कल्याणकारी बनेंगे। उन्हें सर्विस का बहुत शौक होगा। 6- कोई भी तुच्छ काम नहीं करेंगे। लड़ेंगे-झगड़ेंगे नहीं।
गीत:- तूने रात गंवायी सो के……..

ओम् शान्ति। रूहानी बच्चे रूहानी बाप के सामने बैठे हैं। अब इस भाषा को तो तुम बच्चे ही समझते हो और कोई नया समझ न सके। ”हे रूहानी बच्चे” ऐसे कभी कोई कह न सके। कहने आयेगा ही नहीं। तुम जानते हो हम रूहानी बाप के सामने बैठे हैं। जिस बाप को यथार्थ रीति कोई भी जानते नहीं। भल अपने को भाई-भाई भी समझते हैं, हम सब आत्मायें हैं। बाप एक है परन्तु यथार्थ रीति नहीं जानते। जब तक सम्मुख आकर समझें नहीं तब तक समझें भी कैसे? तुम भी जब सम्मुख आते हो तब समझते हो। तुम हो ब्राह्मण-ब्राह्मणियाँ। तुम्हारा सरनेम ही है ब्रह्मा वंशी ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ। शिव की तो सब आत्मायें हैं। तुमको शिवकुमार व शिवकुमारी नहीं कहेंगे। यह अक्षर रांग हो जाता। कुमार हो तो कुमारी भी हो। शिव की सब आत्मायें हैं। कुमार-कुमारी तब कहा जाता जब मनुष्य के बच्चे बनते हैं। शिव के बच्चे तो निराकारी आत्मायें हैं ही। मूलवतन में सब आत्मायें ही रहती हैं, जिनको सालिग्राम कहा जाता है। यहाँ आते हैं तो फिर कुमार और कुमारियाँ बनते हैं जिस्मानी। वास्तव में तुम हो कुमार शिवबाबा के बच्चे। कुमारियाँ और कुमार तब बनते जब शरीर में आते हो। तुम बी.के. हो, इसलिए भाई-बहन कहलाते हो। अभी इस समय तुमको नॉलेज मिली है। तुम जानते हो बाबा हमको पावन बनाकर ले जायेंगे। आत्मा जितना बाप को याद करेगी तो पवित्र बन जायेगी। आत्मायें ब्रह्मा मुख से यह नॉलेज पढ़ती हैं। चित्रों में भी बाप की नॉलेज क्लीयर है। शिवबाबा ही हमको पढ़ाते हैं। न कृष्ण पढ़ा सकते, न कृष्ण द्वारा बाप पढ़ा सकते हैं। कृष्ण तो वैकुण्ठ का प्रिन्स है, यह भी तुम बच्चों को समझाना है। कृष्ण तो स्वर्ग में अपने माँ-बाप का बच्चा होगा। स्वर्गवासी बाप का बच्चा होगा, वो वैकुण्ठ का प्रिन्स है। उनको भी कोई जानते नहीं। कृष्ण जयन्ती पर अपने-अपने घरों में कृष्ण के लिए झूले बनाते हैं वा मन्दिरों में झूले बनाते हैं। मातायें जाकर गोलक में पैसे डालती हैं, पूजा करती हैं। आजकल क्राइस्ट को भी कृष्ण मिसल बनाते हैं। ताज आदि पहनाकर माँ की गोद में देते हैं। जैसे कृष्ण को दिखाते हैं। अब कृष्ण और क्राइस्ट राशि तो एक ही है। वो लोग कॉपी करते हैं। नहीं तो कृष्ण के जन्म और क्राइस्ट के जन्म में बहुत फ़र्क है। क्राइस्ट का जन्म कोई छोटे बच्चे के रूप में नहीं होता है। क्राइस्ट की आत्मा ने तो कोई में जाकर प्रवेश किया है। विष से पैदा हो न सके। आगे क्राइस्ट को कभी छोटा बच्चा नहीं दिखाते थे। क्रॉस पर दिखाते थे। यह अभी दिखाते हैं। बच्चे जानते हैं धर्म स्थापक को कोई ऐसे मार न सके, तो किसको मारा? जिसमें प्रवेश किया, उनको दु:ख मिला। सतोप्रधान आत्मा को दु:ख कैसे मिल सकता। उसने क्या कर्म किये जो इतने दु:ख भोगे। आत्मा ही सतोप्रधान अवस्था में आती है, सबका हिसाब-किताब चुक्तू होता है। इस समय बाप सबको पावन बनाते हैं। वहाँ से सतोप्रधान आत्मा आकर दु:ख भोग न सके। आत्मा ही भोगती है ना। आत्मा शरीर में है तो दु:ख होता है। मुझे दर्द है-यह किसने कहा? इस शरीर में कोई रहने वाला है। वह कहते हैं परमात्मा अन्दर है तो ऐसे थोड़ेही कहेंगे-हमको दु:ख है। सर्व में परमात्मा विराजमान है तो परमात्मा कैसे दु:ख भोगेगा। यह आत्मा पुकारती है। हे परमपिता परमात्मा हमारे दु:ख हरो, पारलौकिक बाप को ही आत्मा पुकारती है।

अभी तुम जानते हो बाप आया हुआ है, दु:ख हरने की युक्ति बता रहे हैं। आत्मा शरीर के साथ ही एवर-हेल्दी वेल्दी बनती है। मूलवतन में तो हेल्दी-वेल्दी नहीं कहेंगे। वहाँ कोई सृष्टि थोड़ेही है। वहाँ तो है ही शान्ति। शान्ति स्वधर्म में टिके हुए हैं। अभी बाप आये हैं, सबके दु:ख हरकर सुख देने। तो बच्चों को भी कहते हैं-तुम मेरे बने हो, किसको दु:ख नहीं देना। यह लड़ाई का मैदान है, परन्तु गुप्त। वह है प्रत्यक्ष। यह जो गायन है-युद्ध के मैदान में जो मरेंगे वह स्वर्ग में जायेंगे, उसका अर्थ भी समझाना पड़े। इस लड़ाई का महत्व देखो कितना है। बच्चे जानते हैं उस लड़ाई में मरने से कोई स्वर्ग में जा न सके। परन्तु गीता में भगवानुवाच है उनको मानेंगे तो सही ना। भगवान ने किसको कहा? उस लड़ाई वालों को कहा या तुमको कहा? दोनों को कहा। उन्हों को भी समझाया जाता है, अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। यह सर्विस भी करनी है। अब तुम स्वर्ग में अगर जाना चाहते हो तो पुरूषार्थ करो, लड़ाई में तो सब धर्म वाले हैं, सिक्ख भी हैं, वो तो सिक्ख धर्म में ही जायेंगे। स्वर्ग में तो तब आ सकेंगे जब तुम ब्राह्मणों से आकर ज्ञान लें। जैसे बाबा के पास आते थे तो बाबा समझाते थे-तुम लड़ाई करते शिवबाबा की याद में रहेंगे तो स्वर्ग में आ सकेंगे। बाकी ऐसे नहीं कि स्वर्ग में राजा बनेंगे। नहीं, जास्ती उन्हों को समझा भी नहीं सकते हो। उनको थोड़ा ही ज्ञान समझाया जाता है। लड़ाई में अपने इष्ट देवता को याद जरूर रखते हैं। सिक्ख होगा तो गुरु गोविन्द की जय कहेंगे। ऐसा कोई नहीं जो अपने को आत्मा समझ परमात्मा को याद करे। बाकी हाँ जो बाप का परिचय लेंगे तो स्वर्ग में आ जायेंगे। सबका बाप तो एक ही है – पतित-पावन। वह पतितों को कहते हैं मुझे याद करने से तुम्हारे पाप कट जायेंगे और मैं जो सुखधाम स्थापन करता हूँ उसमें तुम आ जायेंगे। लड़ाई में भी शिवबाबा को याद करेंगे तो स्वर्ग में आ जायेंगे। उस युद्ध के मैदान की बात और है, यहाँ और है। बाप कहते हैं ज्ञान का विनाश नहीं होता है। शिवबाबा के बच्चे तो सब हैं। अब शिवबाबा कहते हैं मामेकम् याद करने से तुम मेरे पास आ जायेंगे मुक्तिधाम। फिर जो ज्ञान सिखाया जाता है वह पढ़ेंगे तो स्वर्ग की राजाई मिल जायेगी। कितना सहज है, स्वर्ग में जाने का रास्ता सेकेण्ड में मिल जाता है। हम आत्मा बाप को याद करती हैं, लड़ाई के मैदान में तो खुशी से जाना है। कर्म तो करना ही है। देश के बचाव के लिए सब कुछ करना पड़ता है। वहाँ तो है ही एक धर्म। मतभेद की कोई बात नहीं। यहाँ कितना मतभेद है। पानी पर, जमीन पर झगड़ा। पानी बन्द कर देते हैं, तो पत्थर मारने लग पड़ते हैं। एक-दो को अनाज नहीं देते तो झगड़ा हो जाता है।

तुम बच्चे जानते हो हम अपना स्वराज्य स्थापन कर रहे हैं। पढ़ाई से राज्य पाते हैं। नई दुनिया जरूर स्थापन होनी है, नूँध है तो कितनी खुशी होनी चाहिए। कोई भी चीज़ में लड़ने-झगड़ने की कोई बात नहीं। रहना भी बहुत साधारण है। बाबा ने समझाया है तुम ससुरघर जाते हो इसलिए अब वनवाह में हो। सभी आत्मायें जायेंगी, शरीर थोड़ेही जायेंगे। शरीर का अभिमान भी छोड़ देना है। हम आत्मा हैं, 84 जन्म अब पूरे हुए हैं। जो भी भारतवासी हों-बोलो भारत स्वर्ग था, अब तो कलियुग है। कलियुग में अनेक धर्म हैं। सतयुग में एक ही धर्म था। भारत फिर से स्वर्ग बनना है। समझते भी हैं भगवान आया हुआ है। आगे चल भविष्य वाणी भी करते रहेंगे। वायुमण्डल देखेंगे ना। तो बाप बच्चों को समझाते हैं। बाप तो सभी का है ना। सबका हक है। बाप कहते हैं मैं आया हूँ और सबको कहता हूँ-मामेकम् याद करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। अभी तो मनुष्य समझते हैं-कभी भी लड़ाई हो सकती है। यह तो कल भी हो सकती है। लड़ाई जोर भरने में देरी थोड़ेही लगती है। परन्तु तुम बच्चे समझते हो अभी हमारी राजधानी स्थापन हुई नहीं है तो विनाश कैसे हो सकता है। अजुन बाप का पैगाम ही चारों तरफ कहाँ दिया है। पतित-पावन बाप कहते हैं मुझे याद करो तो विकर्म विनाश होंगे। यह पैगाम सबके कानों पर जाना चाहिए। भल लड़ाई लगे, बॉम्बस भी लग जाएं परन्तु तुमको निश्चय है कि हमारी राजधानी जरूर स्थापन होनी है, तब तक विनाश हो नहीं सकता। विश्व में शान्ति कहते हैं ना। विश्व में वार होगी तो विश्व को खत्म कर देंगे।

यह है विश्व विद्यालय, सारे विश्व को तुम नॉलेज देते हो। एक ही बाप आकर सारे विश्व को पलटाते (परिवर्तन करते) हैं। वो लोग तो कल्प की आयु ही लाखों वर्ष कह देते हैं। तुम जानते हो इनकी आयु पूरे 5000 वर्ष है। कहते हैं क्राइस्ट से 3 हज़ार वर्ष पहले हेविन था। इस्लामी, बौद्धी आदि सबका हिसाब-किताब निकालते हैं। उनसे पहले दूसरे कोई का नाम है नहीं। तुम अंगे अक्षरे बता सकते हो। तो तुमको कितना नशा रहना चाहिए। झगड़े आदि की बात ही नहीं। झगड़ते वह हैं जो निधनके होते हैं। तुम अभी जो पुरूषार्थ करेंगे 21 जन्म के लिए प्रालब्ध बन जायेगी। लड़ेंगे-झगड़ेंगे तो ऊंच पद भी नहीं मिलेगा। सज़ायें भी खानी पड़ेगी। कोई भी बात है, कुछ भी चाहिए तो बाप के पास आओ, गवर्मेन्ट भी कहती है ना तुम फैंसला अपने हाथ में नहीं उठाओ। कोई कहते हैं हमको विलायत का बूट चाहिए। बाबा कहेंगे बच्चे अभी तो वनवाह में हो। वहाँ तुमको बहुत माल मिलेंगे। बाप तो राइट ही समझायेंगे ना कि यह बात ठीक नहीं है। यहाँ तुम यह आश क्यों रखते हो। यहाँ तो बहुत सिम्पुल रहना चाहिए। नहीं तो देह-अभिमान आ जाता है, इसमें अपनी नहीं चलानी होती है, बाबा जो कहे, बीमारी आदि है डॉक्टर आदि को भी बुलाते हैं, दवाई आदि से सम्भाल तो सबकी होती है। फिर भी हर बात में बाप बैठा है। श्रीमत तो श्रीमत है ना। निश्चय में विजय है। वो तो सब कुछ समझते हैं ना। बाप की राय पर चलने में ही कल्याण है। अपना भी कल्याण करना है। कोई को वर्थ पाउण्ड बना नहीं सकते हैं तो वर्थ नाट ए पेनी ठहरे ना। पाउण्ड बनने लायक नहीं। यहाँ वैल्यु नहीं तो वहाँ भी वैल्यु नहीं रहेगी। सर्विसएबुल बच्चों को सर्विस का कितना शौक रहता है। चक्र लगाते रहते हैं। सर्विस नहीं करते तो उनको रहमदिल, कल्याणकारी कुछ भी नहीं कहेंगे। बाबा को याद नहीं करते तो तुच्छ काम करते रहेंगे। पद भी तुच्छ पायेंगे। ऐसे नहीं, हमारा तो शिवबाबा से योग है। यह तो है ही बी.के.। शिवबाबा ब्रह्मा द्वारा ही ज्ञान दे सकते हैं। सिर्फ शिवबाबा को याद करेंगे तो मुरली कैसे सुनेंगे फिर नतीजा क्या होगा? पढ़ेंगे नहीं तो पद क्या पायेंगे। यह भी जानते हैं सबकी तकदीर ऊंच नहीं बनती है। वहाँ भी तो नम्बरवार पद होंगे। पवित्र तो सबको होना है। आत्मा पवित्र बनने बिगर शान्तिधाम जा नहीं सकती।

बाप समझाते हैं तुम सबको यह ज्ञान सुनाते चलो, कोई भल अभी नहीं भी सुनते हैं, आगे चलकर जरूर सुनेंगे। अभी कितने भी विघ्न, तूफान ज़ोर से आयें-तुम्हें डरना नहीं है क्योंकि नये धर्म की स्थापना होती है ना। तुम गुप्त राजधानी स्थापन कर रहे हो। बाबा सर्विसएबुल बच्चों को देखकर खुश होते हैं। तुम्हें अपने को आपेही राजतिलक देना है, श्रीमत पर चलना है। इसमें अपना हठ चल न सके। मुफ्त अपने को घाटे में नहीं डालना चाहिए। बाप कहते हैं-बच्चे, सर्विसएबुल और कल्याणकारी बनो। स्टूडेन्ट को टीचर कहेंगे ना, पढ़कर गैलप करो। तुमको 21 जन्मों के लिए स्वर्ग की स्कालरशिप मिलती है। डिनायस्टी में जाना यही बड़ी स्कालरशिप है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) संगम पर बहुत सिम्पुल साधारण रहना है क्योंकि यह वनवाह में रहने का समय है। यहाँ कोई भी आश नहीं रखनी है। कभी अपने हाथ में लॉ नहीं लेना है। लड़ना-झगड़ना नहीं है।

2) विनाश के पहले नई राजधानी स्थापन करने के लिए सबको बाप का पैगाम देना है कि बाप कहते हैं मुझे याद करो तो विकर्म विनाश हों और तुम पावन बनो।

वरदान:- बाप द्वारा सफलता का तिलक प्राप्त करने वाले सदा आज्ञाकारी, दिलतख्तनशीन भव
भाग्य विधाता बाप रोज़ अमृतवेले अपने आज्ञाकारी बच्चों को सफलता का तिलक लगाते हैं। आज्ञाकारी ब्राह्मण बच्चे कभी मेहनत वा मुश्किल शब्द मुख से तो क्या संकल्प में भी नहीं ला सकते हैं। वह सहजयोगी बन जाते हैं इसलिए कभी भी दिलशिकस्त नहीं बनो लेकिन सदा दिलतख्तनशीन बनो, रहमदिल बनो। अहम भाव और वहम भाव को समाप्त करो।
स्लोगन:- विश्व परिवर्तन की डेट नहीं सोचो, स्वयं के परिवर्तन की घड़ी निश्चित करो।

TODAY MURLI 16 SEPTEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 16 September 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 15 September 2019:- Click Here

16/09/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, have the concern to charge your batteries. Do not waste your time thinking about others. Grind your own ingredients and become intoxicated.
Question: Why is there a need for the Father to explain everything to you in detail and to give you so much time, even though knowledge is of just a second?
Answer: Because the Father sees whether there has been any improvement in you children after giving you knowledge. He then continues to give knowledge for improvement to take place in you. He gives the knowledge of the Seed and the whole tree and it is because of this that He is called the Ocean of Knowledge. If He were to go away having given you a mantra of a second, He would not receive the title of the Ocean of Knowledge.

Om shanti. The spiritual Father sits here and explains to you spiritual children. On the path of devotion, even though they worship the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva, their intellects are aware that He has been here and gone. Wherever they see a lingam, they worship it. You understand that Shiva resides in the supreme abode. He has been and gone and this is why they create His memorial and worship it. When you remember Him, it definitely enters your intellects that He is the Incorporeal, that He is the Resident of the supreme abode. They call a lingam “Shiva”, and worship it. They go to temples and bow down to it. They offer it milk, water, fruit etc., but it is non-living. They continue to worship the non-living. You now know that that One is the Living Being and that His residence is the supreme abode. When those people worship Him, their intellects are aware that He is the Resident of the supreme abode and that He has been and gone. That is why those images have been made and they worship them. Those images are not Shiva, but they are just images of Him. In the same way, people worship idols of the deities, which are non-living images; they are not living beings. However, they don’t understand where those living beings have gone. They must surely have taken rebirth and come down. You children are now receiving knowledge. You understand that all those worthy-of-worship deities have continued to take rebirth. All souls are the same. That name does not change, but the names of the bodies change. Each soul is in one body or another. They definitely have to take rebirth. Those who were the first beings with bodies are worshipped (the golden-aged Lakshmi and Narayan). You now have thoughts about the knowledge that the Father gives you. You understand that the image you worshipped is the number one. This Lakshmi and Narayan existed in the living form. They existed here in Bharat, but they are no longer here. People do not understand that, by taking rebirth, they take on different names and forms and continue to play their parts for 84 births. None of them think about these things. They definitely existed in the golden age, but they are now no longer here. No one is even able to understand this. You now know that, according to the dramaplan, they will definitely come into the living form. These thoughts do not enter the intellects of human beings, but they definitely do understand that they existed. Their non-living images now exist, but it doesn’t enter anyone’s intellect where those living beings went. People speak of rebirth and 8.4 million births. Only you children know that human beings only take 84 births and not 8.4 million births. People worship Ramachandra, but they don’t know where Rama went. You know that the Shri Rama soul must definitely take rebirth. That soul fails the examination here. However, he must definitely exist in one form or another. It is here that he continues to make effort. The name of Rama is glorified so much, and so that soul will surely come and have to take this knowledge. Now, because people don’t know anything, you have to put that matter aside. Time is wasted by going into those things. Why not use your time in a worthwhile way rather than spending it in that way? Each of you has to charge your battery for your own progress. Thinking about other things is thinking about others. You now have to think about yourself alone. I should remember the Father. Others too must definitely be studying. They must be charging their batteries, but you have to charge your own battery. It is said: Grind your own ingredients and you will feel intoxicated. The Father has said: When you were satopradhan, your status was very high. Now make effort once again and remember Me and your sins will be absolved. There is this destination. You will become satopradhan by thinking about these things. By thinking about Narayan, we will become Narayan. Those who remember Narayan in the final moments…. You have to remember the Father through which your sins can be cut away and you can then become Narayan. This is the highest method to change from an ordinary man into Narayan. There wouldn’t be just one person who becomes Narayan. It is the whole dynasty that becomes this. The Father enables you to make the highest effort. This is knowledge of Raj Yoga and you have to become the masters of the whole world. The more effort you make, the more benefit there will definitely be. Firstly, have the faith that you are a soul. Some even write: Such and such a soul is remembering You. A soul writes through a body. Souls have a connection with Shiv Baba. I, the soul, have a body with such and such a name and form. You definitely have to say this, because different names are given to the bodies that are adopted by a soul. I, the soul, am Your child, and the name of the body of this soul is So and so. The name of the soul never changes. I, the soul, have such and such a body. The body definitely has to have a name. Otherwise, there wouldn’t be any interaction. Here, the Father says: I enter the body of this Brahma temporarily. He also explains to the soul of this one. I have come to teach you through this body. This is not My body. I have entered this body. I will then return to My land. I have come to give you children this mantra. It is not that I go back having given you the mantra; no. I have to see to what extent there has been some improvement in you children. Then, I continue to give teachings for your improvement. If He were to go away having given you knowledge of a second, He would not be called the Ocean of Knowledge. It has been such a long time and yet He continues to explain to you. There are the details of the tree and the path of devotion that have to be understood. He explains to you in detailWholesale means “Manmanabhav”! However, He doesn’t just say this and go away. He also has to give you sustenance. Some children remember the Father and then disappear. Such and such a soul whose name was so and so used to study very well. He would remember that. The old children were so good, and yet Maya swallowed them. So many came at the beginning. They came and instantly went into the Father’s lap and a furnace (bhatthi) was created. Everyone tried their own luck in that and, while they were trying their luck, Maya completely blew them away. They were unable to stay and the same thing will happen after 5000 years. So many went away. Half the tree must definitely have gone. The tree has grown, but the old ones left. You can understand that some of them will definitely come back to study here again. They will remember that they were studying with the Father and that they became defeated while the others are still continuing to study with Him. They will then come on to the field once again. Baba will allow them to come: Let them come and make effort again. They will receive one or another good status. The Father reminds you: Sweetest children, constantly remember Me alone and your sins will be cut away. How do you remember Him? Do you think that Baba is in the supreme abode? No; the Father is sitting here in this chariot. You all continue to know about this chariot. This is “The Lucky Chariot”. He has entered this one. When you were on the path of devotion, you used to remember Him in the supreme abode, but you didn’t know what would happen by having that remembrance. The Father Himself now sits in this chariot and gives you shrimat. This is why you children understand that Baba is now at the most auspicious confluence age in this land of death. You know that you don’t have to remember Brahma. The Father says: Constantly remember Me alone. I stay in this chariot and give you this knowledge. I give you My own introduction and explain: I am here. Previously, you used to think that He is the Resident of the supreme abode, that He came and departed, but you didn’t know when. Everyone has been and gone. No one knows where all of those, whose images have been made, are. Those who depart then come back at their own time. They continue to play different parts. No one can go to heaven yet. The Father has explained: You have to make effort to go to heaven and there also has to be the end of the old world and the beginning of the new world, which is called the most auspicious confluence age. You now have this knowledge. People don’t know anything at all. They know that the body is burnt and that the soul departs. It is now the iron age and so souls will definitely take rebirth in the iron age. When you were in the golden age, you took rebirth in the golden age. You also know that the whole stock of souls exists in the incorporeal world. This is in your intellects. We then come from there, adopt bodies here and become human beings. Everyone has to come here and become human beings and then return, numberwise. He will not take everyone back, because, in that case, there would be annihilation. They show that annihilation took place, but they don’t show the result of that. You know that this world can never become empty. It is sung: Rama went, Ravan who had a big family went. There is the community of Ravan over the whole world. There is a very small community of Rama. The community of Rama exists in the golden and silver ages. There is a lot of difference. Later, other branches and twigs emerge. You now know the Seed and the tree too. The Father knows everything and this is why He continues to tell you everything. This is why He is called the Ocean of Knowledge. If there were only one thing (for Him to tell), the scriptures etc. could not be written. He also continues to explain to you the detail of the tree. The main thing, the number one subject, is to remember the Father. It is this that requires effort. Everything depends on this. However, you now also know the tree. No one in the world knows these things. You show the time and date etc. of all the other religions. All of them are included in half the cycle but there are those of the sun dynasty and the moon dynasty. There aren’t many ages for them, just the two ages. There are few human beings there. There cannot possibly be 8.4 million births. People lose all understanding and this is why the Father comes and explains. The Father, who is the Creator, sits here and He gives you the knowledge of Himself, the Creator, and of the beginning, middle and end of creation. The people of Bharat do not know anything at all; they continue to worship everyone. They begin to worship whoever comes – Muslims, Parsis etc. – because they have forgotten their religion and the Founder of their religion. All others know about their own religion. All of them know when such and such a religion was established and by whom, but no one knows the history and geography of the golden and silver ages. They look at the images and think: That is Shiv Baba’s form. He alone is the highest-on-high Father. So, you have to remember Him. People worship Shri Krishna the most because he is next to that One. They also love him and consider him to be the God of the Gita. There has to be someone who speaks this knowledge, because only then could you receive your inheritance. The Father alone gives you this knowledge. There cannot be anyone, other than the one Father, who can establish a new world and inspire the destruction of the old world. They even write: Establishment through Brahma, sustenance through Vishnu and destruction through Shankar. That refers to this time but they don’t understand it. You know that that is the incorporeal world whereas this is the corporeal world. The world is the same – the kingdom of Rama and the kingdom of Ravan exist here. All the praise is of this time. However, the subtle region is simply for having visions. Souls reside in the incorporeal world, and souls then come here to play their parts. They have just created images of what there is in the subtle region which the Father explains to you. You children have to become those angels who are residents of the subtle region. Angels do not have flesh and bones. They say: Dadhichi rishi even gave his bones, but there is no mention of Shankar anywhere. There are temples to Brahma and Vishnu. There are none to Shankar, so they have shown him for destruction. However, it isn’t that he carries out destruction by opening his eye. How could deities carry out an act of violence? Neither do they do that, nor does Shiv Baba give such a direction. Everything would then be upon the one who gave that direction. The one who said anything would be blamed. Those people say that Shiva and Shankar are one and the same. The Father now says: Remember Me alone. Constantly remember Me alone. He doesn’t say: Remember Shiva and Shankar. Only the One is called the Purifier. God sits here and explains the meaning of everything. No one knows these things, and so they become confused when they see these pictures. They definitely have to be told the meaning of them. It takes time for them to understand. Only a handful out of multimillions emerge. Whatever I am, however I am, only a handful out of multimillions recognise Me. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Do not waste your time thinking about other things. Remain intoxicated with your own self. Think about your own self and make the soul satopradhan.
  2. In order to change from an ordinary man into Narayan, you must have remembrance of only the one Father in your final moments. Keep this highest method in front of you and make this effort: I am a soul. I have to forget this body.
Blessing: May you be seated on a lotus seat and experience God’s love by being detached from body consciousness.
A lotus seat is a symbol of the elevated stage of Brahmin souls. Souls who are seated on such a lotus seat automatically remain detached from body consciousness. The consciousness of bodies does not attract them. While walking and moving around, Father Brahma always had the awareness of either the angelic form or the deity form. Let there always be such a stage of natural soul consciousness. This is known as being detached from any consciousness of the body. Those who remain detached from the consciousness of the body in this way are loved by God.
Slogan: Your specialities and virtues are Prabhu Prasad (holy offering from God). To consider these to belong to you is to have body consciousness.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 16 SEPTEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 16 September 2019

To Read Murli 15 September 2019:- Click Here
16-09-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – अपनी बैटरी चार्ज करने का ख्याल करो, अपना टाइम परचिंतन में वेस्ट मत करो, अपनी घोट तो नशा चढ़े”
प्रश्नः- ज्ञान एक सेकेण्ड का होते हुए भी बाप को इतना डिटेल से समझाने वा इतना समय देने की आवश्यकता क्यों?
उत्तर:- क्योंकि ज्ञान देने के बाद बच्चों में सुधार हुआ है या नहीं, यह भी बाप देखते हैं और फिर सुधारने के लिए ज्ञान देते ही रहते हैं। सारे बीज और झाड़ का ज्ञान देते हैं, जिस कारण उन्हें ज्ञान सागर कहा जाता। अगर एक सेकण्ड का मंत्र देकर चले जाएं तो ज्ञान सागर का टाइटिल भी न मिले।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप बैठ रूहानी बच्चों को समझाते हैं। भक्ति मार्ग में परमपिता परमात्मा शिव को यहाँ ही पूजते हैं। भल बुद्धि में है कि यह होकर गये हैं। जहाँ पर लिंग देखते हैं तो उनकी पूजा करते हैं। यह तो समझते हैं शिव परमधाम में रहने वाला है, होकर गये हैं, इसलिए उनका यादगार बनाकर पूजते हैं। जिस समय याद किया जाता है तो बुद्धि में जरूर आता है कि निराकार है, जो परमधाम में रहने वाला है, उनको शिव कह पूजते हैं। मन्दिर में जाकर माथा टेकते हैं, उन पर दूध, फल, जल आदि चढ़ाते हैं। परन्तु वह तो जड़ है। जड़ की भक्ति ही करते हैं। अभी तुम जानते हो – वह है चैतन्य, उनका निवास स्थान परमधाम है। वह लोग जब पूजा करते हैं तो बुद्धि में रहता है कि परमधाम निवासी है, होकर गये हैं तब यह चित्र बनाये गये हैं, जिसकी पूजा की जाती है। वह चित्र कोई शिव नहीं है, उनकी प्रतिमा है। वैसे ही देवताओं को भी पूजते हैं, जड़ चित्र हैं, चैतन्य नहीं हैं। परन्तु वह चैतन्य जो थे वह कहाँ गये, यह नहीं समझते। जरूर पुनर्जन्म ले नीचे आये होंगे। अभी तुम बच्चों को ज्ञान मिल रहा है। समझते हो जो भी पूज्य देवता थे वह पुनर्जन्म लेते आये हैं। आत्मा वही है, आत्मा का नाम नहीं बदलता। बाकी शरीर का नाम बदलता है। वह आत्मा कोई न कोई शरीर में है। पुनर्जन्म तो लेना ही है। तुम पूजते हो उनको, जो पहले-पहले शरीर वाले थे (सतयुगी लक्ष्मी-नारायण को पूजते हो) इस समय तुम्हारा ख्याल चलता है, जो नॉलेज बाप देते हैं। तुम समझते हो जिस चित्र की पूजा करते हैं वह पहले नम्बर वाला है। यह लक्ष्मी-नारायण चैतन्य थे। यहाँ ही भारत में थे, अभी नहीं हैं। मनुष्य यह नहीं समझते कि वह पुनर्जन्म लेते-लेते भिन्न नाम-रूप लेते 84 जन्मों का पार्ट बजाते रहते हैं। यह किसके ख्याल में भी नहीं आता। सतयुग में थे तो जरूर परन्तु अब नहीं हैं। यह भी किसको समझ नहीं आती। अभी तुम जानते हो – ड्रामा के प्लैन अनुसार फिर चैतन्य में आयेंगे जरूर। मनुष्यों की बुद्धि में यह ख्याल ही नहीं आता। बाकी इतना जरूर समझते हैं कि यह थे। अब इनके जड़ चित्र हैं, परन्तु वह चैतन्य कहाँ चले गये – यह किसकी बुद्धि में नहीं आता है। मनुष्य तो 84 लाख पुनर्जन्म कह देते हैं, यह भी तुम बच्चों को मालूम पड़ा है कि 84 जन्म ही लेते हैं, न कि 84 लाख। अब रामचन्द्र की पूजा करते हैं, उनको यह भी पता नहीं है कि राम कहाँ गया। तुम जानते हो कि श्रीराम की आत्मा तो जरूर पुनर्जन्म लेती रहती होगी। यहाँ इम्तहान में नापास होती है। परन्तु कोई न कोई रूप में होगी तो जरूर ना। यहाँ ही पुरूषार्थ करते रहते हैं। इतना नाम बाला है राम का, तो जरूर आयेंगे, उनको नॉलेज लेनी पड़ेगी। अभी कुछ मालूम नहीं पड़ता है तो उस बात को छोड़ देना पड़ता है। इन बातों में जाने से भी टाइम वेस्ट होता है, इससे तो क्यों न अपना टाइम सफल करें। अपनी उन्नति के लिए बैटरी चार्ज करें। दूसरी बातों का चिंतन तो परचिंतन हो गया। अभी तो अपना चिंतन करना है। हम बाप को याद करें। वह भी जरूर पढ़ते होंगे। अपनी बैटरी चार्ज करते होंगे। परन्तु तुमको अपनी करनी है। कहा जाता – अपनी घोट तो नशा चढ़े।

बाप ने कहा है – जब तुम सतोप्रधान थे तो तुम्हारा बहुत ऊंच पद था। अब फिर पुरूषार्थ करो, मुझे याद करो तो विकर्म विनाश हों। मंजिल है ना। यह चिंतन करते-करते सतोप्रधान बनेंगे। नारायण का ही सिमरण करने से हम नारायण बनेंगे। अन्तकाल में जो नारायण सिमरे…….। तुमको बाप को याद करना है, जिससे पाप कटें। फिर नारायण बनें। यह नर से नारायण बनने की हाइएस्ट युक्ति है। एक नारायण तो नहीं बनेंगे ना। यह तो सारी डिनायस्टी बनती है। बाप हाइएस्ट पुरूषार्थ करायेंगे। यह है ही राजयोग की नॉलेज, सो भी पूरे विश्व का मालिक बनना है। जितना पुरूषार्थ करेंगे, उतना जरूर फायदा है। एक तो अपने को आत्मा जरूर निश्चय करो। कोई-कोई लिखते भी ऐसे हैं, फलानी आत्मा आपको याद करती है। आत्मा शरीर के द्वारा लिखती है। आत्मा का कनेक्शन है शिवबाबा के साथ। मैं आत्मा फलाने शरीर के नाम-रूप वाली हूँ। यह तो जरूर बताना पड़े ना क्योंकि आत्मा के शरीर पर ही भिन्न-भिन्न नाम पड़ते हैं। मैं आत्मा आपका बच्चा हूँ, मुझ आत्मा के शरीर का नाम फलाना है। आत्मा का नाम तो कभी बदलता नहीं। मैं आत्मा फलाने शरीर वाली हूँ। शरीर का नाम तो जरूर चाहिए। नहीं तो कारोबार चल न सके। यहाँ बाप कहते हैं मैं भी इस ब्रह्मा के तन में आता हूँ टैप्रेरी, इनकी आत्मा को भी समझाते हैं। मैं इस शरीर से तुमको पढ़ाने आया हूँ। यह मेरा शरीर नहीं है। मैंने इनमें प्रवेश किया है। फिर चले जायेंगे अपने धाम। मैं आया ही हूँ तुम बच्चों को यह मंत्र देने। ऐसे नहीं कि मंत्र देकर चला जाता हूँ। नहीं, बच्चों को देखना भी पड़ता है कि कहाँ तक सुधार हुआ है। फिर सुधारने की शिक्षा देते रहते हैं। सेकण्ड का ज्ञान देकर चले जाएं तो फिर ज्ञान का सागर भी न कहा जाए। कितना समय हुआ है, तुमको समझाते ही रहते हैं। झाड़ की, भक्ति मार्ग की सब बातें समझने की डिटेल है। डिटेल में समझाते हैं। होलसेल माना मनमनाभव। परन्तु ऐसा कहकर चले तो नहीं जायेंगे। पालना (देख-रेख) भी करनी पड़े। कई बच्चे बाप को याद करते-करते फिर गुम हो जाते हैं। फलानी आत्मा जिसका नाम फलाना था, बहुत अच्छा पढ़ता था – स्मृति तो आयेगी ना। पुराने-पुराने बच्चे कितने अच्छे थे, उनको माया ने हप कर लिया। शुरू में कितने आये। फट से आकर बाप की गोद ली। भट्ठी बनी। इसमें सबने अपना लक (भाग्य) अजमाया फिर लक अजमाते-अजमाते माया ने एकदम उड़ा दिया। ठहर न सके। फिर 5 हज़ार वर्ष के बाद भी ऐसे ही होगा। कितने चले गये, आधा झाड़ तो जरूर गया। भल झाड़ वृद्धि को पाया है परन्तु पुराने चले गये, समझ सकते हैं – उनसे कुछ फिर आयेंगे जरूर पढ़ने। स्मृति आयेगी कि हम बाप से पढ़ते थे और सब अभी तक पढ़ते रहते हैं। हमने हार खा ली। फिर मैदान में आयेंगे। बाबा आने देंगे, फिर भी भल आकर पुरूषार्थ करें। कुछ न कुछ अच्छा पद मिल जायेगा।

बाप स्मृति दिलाते हैं – मीठे-मीठे बच्चे, मामेकम् याद करो तो पाप कट जायेंगे। अब कैसे याद करते हो, क्या यह समझते हो कि बाबा परमधाम में है? नहीं। बाबा तो यहाँ रथ में बैठे हैं। इस रथ का सबको मालूम पड़ता जाता है। यह है भाग्यशाली रथ। इनमें आया हुआ है। भक्तिमार्ग में थे तो उनको परमधाम में याद करते थे परन्तु यह नहीं जानते थे कि याद से क्या होगा। अभी तुम बच्चों को बाप खुद इस रथ में बैठ श्रीमत देते हैं, इसलिए तुम बच्चे समझते हो बाबा यहाँ इस मृत्युलोक में पुरूषोत्तम संगमयुग पर हैं। तुम जानते हो हमको ब्रह्मा को याद नहीं करना है। बाप कहते हैं मामेकम् याद करो, मैं इस रथ में रहकर तुमको यह नॉलेज दे रहा हूँ। अपनी भी पहचान देता हूँ, मैं यहाँ हूँ। आगे तो तुम समझते थे परमधाम में रहने वाला है। होकर गया है परन्तु कब, यह पता नहीं था। होकर तो सब गये हैं ना। जिनके भी चित्र हैं, अभी वह कहाँ हैं, यह किसको पता नहीं है। जो जाते हैं वह फिर अपने समय पर आते हैं। भिन्न-भिन्न पार्ट बजाते रहते हैं। स्वर्ग में तो कोई जाते नहीं। बाप ने समझाया है स्वर्ग में जाने के लिए तो पुरूषार्थ करना होता है और पुरानी दुनिया का अन्त, नई दुनिया की आदि चाहिए, जिनको पुरूषोत्तम संगमयुग कहा जाता है। यह ज्ञान अभी तुमको है। मनुष्य कुछ नहीं जानते। समझते भी हैं शरीर जल जाता है, बाकी आत्मा चली जाती है। अब कलियुग है तो जरूर जन्म कलियुग में ही लेंगे। सतयुग में थे तो जन्म भी सतयुग में लेते थे। यह भी जानते हो आत्माओं का सारा स्टॉक निराकारी दुनिया में होता है। यह तो बुद्धि में बैठा है ना। फिर वहाँ से आते हैं, यहाँ शरीर धारण कर जीव आत्मा बन जाते हैं। सबको यहाँ आकर जीव आत्मा बनना है। फिर नम्बरवार वापिस जाना है। सबको तो नहीं ले जायेंगे, नहीं तो प्रलय हो जाए। दिखाते हैं कि प्रलय हो गई, रिज़ल्ट कुछ नहीं दिखाते। तुम तो जानते हो यह दुनिया कभी खाली नहीं हो सकती है। गायन है राम गयो रावण गयो, जिनका बहुत परिवार है। सारी दुनिया में रावण सम्प्रदाय है ना। राम सम्प्रदाय तो बहुत थोड़ी है। राम की सम्प्रदाय है ही सतयुग-त्रेता में। बहुत फर्क रहता है। बाद में फिर और टाल-टालियां निकलती हैं। अभी तुमने बीज और झाड़ को भी जाना है। बाप सब कुछ जानते हैं, तब तो सुनाते रहते हैं इसलिए उनको ज्ञान सागर कहा जाता है, एक ही बात अगर होती तो फिर कुछ शास्त्र आदि भी बन न सके। झाड़ की डिटेल भी समझाते रहते हैं। मूल बात नम्बरवन सब्जेक्ट है बाप को याद करना। इसमें ही मेहनत है। इस पर ही सारा मदार है। बाकी झाड़ को तो तुम जान गये हो। दुनिया में इन बातों को कोई भी नहीं जानते हैं। तुम सब धर्म वालों की तिथि-तारीख आदि सब बताते हो। आधाकल्प में यह सब आ जाते हैं। बाकी हैं सूर्यवंशी और चन्द्रवंशी। इनके लिए बहुत युग तो नहीं होंगे ना। हैं ही दो युग। वहाँ मनुष्य भी थोड़े हैं। 84 लाख जन्म तो हो भी न सकें। मनुष्य समझ से बाहर हो जाते हैं इसलिए फिर बाप आकर समझ देते हैं। बाप जो रचयिता है, वही रचता और रचना के आदि-मध्य-अन्त की नॉलेज बैठ देते हैं। भारतवासी तो बिल्कुल कुछ नहीं जानते। सबको पूजते रहते हैं, मुसलमानों को, पारसी आदि को, जो आया उनको पूजने लग पड़ेंगे क्योंकि अपने धर्म और धर्म-स्थापक को भूल गये हैं। और तो सब अपने-अपने धर्म को जानते हैं, सबको मालूम है फलाना धर्म कब, किसने स्थापन किया। बाकी सतयुग-त्रेता की हिस्ट्री-जॉग्राफी का किसको भी पता नहीं है। चित्र भी देखते हैं शिवबाबा का यह रूप है। वही ऊंच ते ऊंच बाप है। तो याद भी उनको करना है। यहाँ फिर सबसे जास्ती पूजा करते हैं कृष्ण की क्योंकि नेक्स्ट में है ना। प्यार भी उनको करते हैं, तो गीता का भगवान भी उनको समझ लिया है। सुनाने वाला चाहिए तब तो उनसे वर्सा मिले। बाप ही सुनाते हैं, नई दुनिया की स्थापना और पुरानी दुनिया का विनाश कराने वाला और कोई हो न सके सिवाए एक बाप के। ब्रह्मा द्वारा स्थापना, शंकर द्वारा विनाश, विष्णु द्वारा पालना – यह भी लिखते हैं। यहाँ के लिए ही है। परन्तु समझ कुछ भी नहीं।

तुम जानते हो वह है निराकारी सृष्टि। यह है साकारी सृष्टि। सृष्टि तो यही है, यहाँ ही रामराज्य और रावणराज्य होता है। महिमा सारी यहाँ की है। बाकी सूक्ष्मवतन का सिर्फ साक्षात्कार होता है। मूलवतन में तो आत्मायें रहती हैं फिर यहाँ आकर पार्ट बजाती हैं। बाकी सूक्ष्मवतन में क्या है, यह चित्र बना दिया है, जि स पर बाप समझाते हैं। तुम बच्चों को ऐसा सूक्ष्मवतन वासी फरिश्ता बनना है। फरिश्ते हड्डी-मास बिगर होते हैं। कहते हैं ना – दधीचि ऋषि ने हड्डियाँ भी दे दी। बाकी शंकर का गायन तो कहाँ है नहीं। ब्रह्मा-विष्णु का मन्दिर है। शंकर का कुछ है नहीं। तो उनको लगा दिया है विनाश के लिए। बाकी ऐसे कोई आंख खोलने से विनाश करता नहीं है। देवतायें फिर हिंसा का काम कैसे करेंगे। न वह करते हैं, न शिवबाबा ऐसा डायरेक्शन देते हैं। डायरेक्शन देने वाले पर भी आ जाता है ना। कहने वाला ही फँस जाता है। वह तो शिव-शंकर को ही इकट्ठा कह देते हैं। अब बाप भी कहते हैं मुझे याद करो, मामेकम् याद करो। ऐसा तो नहीं कहते शिव-शंकर को याद करो। पतित-पावन एक को ही कहते हैं। भगवान अर्थ सहित बैठ समझाते हैं, यह कोई जानते नहीं हैं तो यह चित्र देख मूँझ पड़ते हैं। अर्थ तो जरूर बताना पड़े ना। समझने में टाइम लगता है। कोटों में कोई विरला निकलता है। मैं जो हूँ, जैसा हूँ, कोटो में कोई ही मुझे पहचान सकते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) किसी भी बात के चिंतन में अपना समय नहीं गँवाना है। अपनी मस्ती में रहना है। स्वयं के प्रति चिंतन कर आत्मा को सतोप्रधान बनाना है।

2) नर से नारायण बनने के लिए अन्तकाल में एक बाप की ही याद रहे। इस हाइएस्ट युक्ति को सामने रखते हुए पुरूषार्थ करना है – मैं आत्मा हूँ। इस शरीर को भूल जाना है।

वरदान:- देह-भान से न्यारे बन परमात्म प्यार का अनुभव करने वाले कमल आसनधारी भव
कमल आसन ब्राह्मण आत्माओं के श्रेष्ठ स्थिति की निशानी है। ऐसी कमल आसनधारी आत्मायें इस देहभान से स्वत: न्यारी रहती हैं। उन्हें शरीर का भान अपनी तरफ आकर्षित नहीं करता। जैसे ब्रह्मा बाप को चलते फिरते फरिश्ता रूप वा देवता रूप सदा स्मृति में रहा। ऐसे नेचुरल देही-अभिमानी स्थिति सदा रहे इसको कहते हैं देह-भान से न्यारे। ऐसे देह-भान से न्यारे रहने वाले ही परमात्म प्यारे बन जाते हैं।
स्लोगन:- आपकी विशेषतायें वा गुण प्रभु प्रसाद हैं, उन्हें मेरा मानना ही देह-अभिमान है।

TODAY MURLI 16 SEPTEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 16 September 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 15 September 2018 :- Click Here

16/09/18
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
16/01/84

Self-sovereignty is your birthright .

Today, BapDada is seeing the gathering of those who have a right to the kingdom. Throughout the whole cycle, it is only at this confluence age that the biggest gathering of those who have a right to the kingdom takes place. BapDada is seeing the gathering of Brahmin children from all over the world. All of you who have a right to the kingdom are set on the seat of your perfect stage, numberwise. Look how you are all sitting like carefree emperors with the spiritual intoxication of your self-sovereignty! The jewel sparkling in the centre of each one’s forehead looks so beautiful. Baba is seeing on each one’s head a crown of light that is sparkling numberwise. All of you have a crown, but you are numberwise. Because remembrance of BapDada is merged in each one’s eyes, the light of remembrance is spreading everywhere through your eyes. BapDada is very pleased to see such a beautifully decorated gathering. Wah! My children who have a right to the kingdom, wah! All of you have received this self-sovereignty, the kingdom of those who have conquered Maya, as your birthright. The children of the Creator of the world automatically have a right to self-sovereignty. Self-sovereignty has been the birthright of all of you many times over, not just now. However, do you remember your rights that you attained many times in the past? You do remember them, do you not? You have attained the kingdom of the world many times through self-sovereignty. You are double sovereigns. You have self-sovereignty, and also the kingdom of the world. Self-sovereignty makes you into Raja Yogis who have a right to the kingdom for all time. Self-sovereignty makes you into one with the third eye, a knower of the three aspects of time and knowledgeable of the three worlds, that is, a master of the three worlds. Self-sovereignty makes you into a soul who is one of the souls selected out of millions of souls and a special soul among those selected few. Self-sovereignty puts you in the garland around the Father’s neck. It makes you part of the rosary of which devotees turn the beads. Self-sovereignty seats you on the Father’s heart-throne. Self-sovereignty makes you into masters of all the treasures of attainments. It makes you firm, unshakeable and constant and enables you to attain all rights. You are such elevated souls who have a right to self-sovereignty, are you not?

You now know very well the answer to the riddle “Who am I?” do you not? The rosary of the title “Who am I?” is so long. Continue to remember this and turn each bead. There will be so much happiness. Become aware of your own rosary and you will experience so much intoxication. Do you have such intoxication? Double foreigners would have double intoxication, would they not? You have imperishable intoxication, do you not? Can anyone reduce this intoxication of yours? In front of the Almighty Authority, what other authority is there? It is just that you fall asleep in the deep sleep of carelessness and so Maya steals the key of your authority, that is, your awareness. Some sleep in such a way that they are not aware of anything. This sleep of carelessness sometimes deceives you so that you feel that you are not sleeping, but are awake. However, even when something gets stolen, you are not aware of it. In fact, there is no other authority in front of the constantly ignited light of the Almighty Authority. No authority can shake you even in your dreams. You are such sovereigns who have a right to the kingdom. Do you understand? Achcha.

Today, Baba has come into the gathering to celebrate a meeting. Just as children are waiting for their turn to meet Baba, in the same way, the Father also invokes the meeting with you children. The loveliest work that the Father has to do is to meet you children, whether it is in the subtle form or the corporeal form. The most important task in the Father’s daily schedule is to meet the long-lost and now-found loving children, to decorate them, to sustain them, to make them similar to Himself and make them instruments in front of the world. This is His work. This is what He is always busy doing. He inspires scientists, but that too is for you children. Even when He gives devotees the fruit of their love and devotion, he keeps you children in front. None of them knows the Point; they only know the deities. He reveals “Himself” to only you children even before the devotees. He takes everyone else into liberation, and that too is in order to give you children a happy and peaceful kingdom. Achcha.

To those who constantly have a right to self-sovereignty, to those who remain constantly stable in a firm, constant, unshakeable stage, to those who constantly remain in spiritual intoxication eternally, to those who have a right to the double kingdom, to the lights of the eyes who are merged in BapDada’s eyes, BapDada’s love, remembrance and namaste.

Dadiji just arrived back in Madhuban from a tour of Madras, Bangalore, Mysore and Calcutta. Seeing Dadiji, BapDada said:

Service of multimillions is merged in your every step. You became the ruler of the globe, went on a tour and created your memorial places. How many pilgrimage places did you create? For mahavir children, to tour around means to create their memorial. Every tour has its own speciality. In this tour too, there was the speciality of fulfilling the desires of many souls. To fulfil the desires of their hearts means to become a bestower of blessings. You became a bestower of blessings and also a great donor. According to the drama, whatever programmes are created are filled with significance. The significance make you fly. Achcha.

BapDada meeting Dadi Janki:

You give everyone the donation of a name. What is the donation of a name? What is your name? To give the donation of a name means to be a trustee and to give a blessing. What would everyone remember as soon as they mention your name? Liberation-in-life in a second and to become a trustee. This is the speciality of your name. Therefore, even if you donate a name, anyone’s boat can go across. The Father just now praised your speciality of being a trustee. This is the memorial. He must have been given that word “Janak”. There are two stories of the one Janak. One Janak is the one who became bodiless in a second, and the second Janak became a trustee in a second. “Not mine, but Yours.” They also show the Janak of the silver age. However, you are the Janak who belongs to the Father, not the one who is Sita’s father. Conduct a class on why there is significance in giving the donation of a name. One is able to go across even with the boat of just a name. Even if you don’t understand anything else, even if you just say, “Shiv Baba, Shiv Baba”, you can receive a gate pass to heaven. Achcha.

BapDada meeting a group from Australia:

BapDada has deep love for the residents of Australia. Why? What is the speciality of Australia? The speciality of Australia is the good method you have of maintaining courage in yourselves and becoming servers and opening centres everywhere. The Father is especially pleased to see children who have courage. The speciality of London is that everyone there continues to receive special sustenance from many experienced jewels, but Australia doesn’t have the chanceto receive so much sustenance. Nevertheless, you have been standing on your own feet and bringing about good growth and success in service. All of you have a keen interest in having remembrance and doing service. You have a great interest in having remembrance and this is why you are moving forward and will continue to do so. The majority of you are free from obstacles. Some good children have left, but they still continue to remember the Father even now. Therefore, constantly have good wishes for them too and definitely bring them close to the Father once again. You have such enthusiasm, do you not? Of course some fruit of a tree would fall; this is nothing new. Therefore, make yourself and others so strong that you become embodiments of success. All of you in this group that has come are strong, are you not? Maya will not catch hold of you, will she? If there is a weakness, remove it and become complete before you leave Madhuban. Take the blessing with you from Madhuban of being immortal. Keep such a blessing with you at all times and also revive others with this blessing. BapDada is proud of the double-foreign children. You are proud of the Father, too, are you not? You do have the intoxication that, out of the whole world, you are the ones who have recognised the Father, do you not? Eternally maintain this intoxication and happiness. BapDada has now taken everyone’s photograph. Baba will then show you the photograph – that you had come here. Move along whilst being knowledgefull of Maya. Those who are knowledge-full are never deceived because when you know when and how Maya comes, you remain constantly safe. You know when Maya comes, do you not? When you step away from the Father and are alone, Maya comes. When you remain constantly combined, Maya will never come. The speciality of Australia is that it is mostly the Pandava Army who is responsible. Elsewhere, the majority is Shaktis. The Pandavas there have performed wonders. “Pandavas” means those who are always with the Father of the Pandavas (Pandava-Pati). You have maintained great courage. BapDada is congratulating you children for your service. Now simply keep the blessing of being immortal with you always. Achcha.

BapDada meeting a group from Brazil:

BapDada knows that loving souls remain merged in the Ocean of Love. No matter how far away you live physically, the children who are constantly loving are always personally in front of BapDada. Your love enables you to overcome all obstacles and helps you to come close to the Father. This is why BapDada is congratulating you children. BapDada knows how you have transformed so much effort into love and have reached here. This is why BapDada constantly massages you children with His hands of love. Parents constantly massage their much-loved children with a lot of love. BapDada sees the stars of fortune of you children. You are sparkling stars. No matter what the condition of the country is, the children of the Father will always remain safe because of the fact that they stay in the Father’s love. You always have BapDada’s canopy of protection over you. You are such beloved, long-lost and now-found children. Children have garlanded BapDada with garlands of many letters. In return, BapDada is giving all of those children love and remembrance. Tell everyone: Just as you have written letters and given your news with so much love, so Baba accepted them with just as much love. And, of course, children who remain courageous definitely receive the Father’s help and He always will help them. He received a rosary and even now, BapDada is turning the beads of the rosary in remembrance.

BapDada knows that, although you may be far away physically, in your minds you are residents of Madhuban. Because of being constantly “Manmanabhav” in your minds, you are close to the Father and in front of Him. BapDada is seeing personally in front of Him such children who remain close and in front of Baba and is giving each one personal love and remembrance and is giving all the long-lost and now-found children the blessing of becoming elevated and moving forward in the service of making others elevated. All of you should accept love and remembrance, personally, by name. Achcha.

Blessing: May you be a master bestower of peace and with the power of silence attract everyone.
Just as you have learned the art of serving through words, similarly, now shoot the arrow of peace. With this power of silence, you can make greenery appear even on sand. No matter how hard a mountain may be, you can make water come out of it. Put this great power of silence into a practical form through your thoughts, words and deeds and you will become a master bestower of peace. Then the rays of peace will attract all souls of the world to the experience of peace and you will become magnets of peace.
Slogan: Observe the fast of the stage of soul consciousness and attitudes will be transformed.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 16 SEPTEMBER 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 16 September 2018

To Read Murli 15 September 2018 :- Click Here
16-09-18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 16-01-84 मधुबन

‘स्वराज्य’ – आपका बर्थ राईट है।

आज बापदादा राज्य अधिकारी सभा देख रहे हैं। सारे कल्प में बड़े ते बड़ी राज्य अधिकारी सभा इस संगमयुग पर ही लगती है। बापदादा सारे विश्व के ब्राह्मण बच्चों की सभा देख रहे हैं। सभी राज्य अधिकारी नम्बरवार अपने सम्पूर्ण स्थिति की सीट पर सेट हो स्वराज्य के रूहानी नशे में कैसे बेफिकर बादशाह बन बैठे हुए हैं। हर एक के मस्तक के बीच चमकती हुई मणि कितनी सुन्दर सज रही है। सभी के सिर पर नम्बरवार चमकता हुआ लाइट का ताज देख रहे हैं। ताजधारी तो सब हैं लेकिन नम्बरवार हैं। सभी के नयनों में बापदादा की याद समाई हुई होने कारण नयनों से याद का प्रकाश चारों ओर फैल रहा है। ऐसी सजी-सजाई सभा देख बापदादा हर्षित हो रहे हैं। वाह मेरे राज्य अधिकारी बच्चे वाह! यह स्वराज्य, मायाजीत का राज्य सभी को जन्म सिद्ध अधिकार में मिला है। विश्व रचता के बच्चे स्वराज्य अधिकारी स्वत: ही हैं। स्वराज्य आप सभी का अनेक बार का बर्थ राइट है। अब का नहीं लेकिन बहुत पुराना अनेक बार प्राप्त किया हुआ अधिकार याद है। याद है ना! अनेक बार स्वराज्य द्वारा विश्व का राज्य प्राप्त किया है। डबल राज्य अधिकारी हो। स्वराज्य और विश्व का राज्य। स्वराज्य सदा के लिए राजयोगी सो राज्य अधिकारी बना देता है। स्वराज्य त्रिनेत्री, त्रिकालदर्शी, तीनों लोकों के नॉलेजफुल अर्थात् त्रिलोकीनाथ बना देता है। स्वराज्य सारे विश्व में कोटों में कोई, कोई में भी कोई विशेष आत्मा बना देता है। स्वराज्य बाप के गले का हार बना देता है। भक्तों के सिमरण की माला बना देता है। स्वराज्य बाप के तख्तनशीन बना देता है। स्वराज्य सर्व प्राप्तियों के खजाने का मालिक बना देता है। अटल, अचल, अखण्ड सर्व अधिकार प्राप्त करा देता है। ऐसे स्वराज्य अधिकारी श्रेष्ठ आत्मायें हो ना!

”मैं कौन” यह पहेली अच्छी तरह से जान ली है ना! मैं कौन, इस टाइटल्स की माला कितनी बड़ी है! याद करते जाओ और एक-एक मणके को चलाते जाओ। कितनी खुशी होगी। अपनी माला स्मृति में लाओ तो कितना नशा रहेगा। ऐस नशा रहता है? डबल विदेशियों को डबल नशा होगा ना। अविनाशी नशा है ना! इस नशे को कोई कम कर सकता है क्या! आलमाइटी अथॉरिटी के आगे और कौन-सी अथॉरिटी है! सिर्फ अलबेलेपन की गहरी नींद में सो जाते हो तो आपके अथॉरिटी की चाबी अर्थात् स्मृति माया चोरी कर लेती है। कई ऐसे नींद में सोते हैं जो पता नहीं पड़ता है। यह अलबेलेपन की नींद कभी-कभी धोखा भी दे देती है और फिर अनुभव ऐसे करते कि मैं सोया हुआ ही नहीं हूँ, जाग रहा हूँ। लेकिन चोरी हो जाती है, वह पता नहीं पड़ता है। वैसे जागती ज्योत आलमाइटी अथॉरिटी के आगे कोई अथॉरिटी है ही नहीं। स्वप्न में भी कोई अथॉरिटी हिला नहीं सकती। ऐसे राज्य अधिकारी हो। समझा। अच्छा-

आज तो मिलन महफिल में आये हैं। जैसे बच्चे इन्तजार करते हैं अपने मिलने के टर्न का। वैसे बाप भी बच्चों से मिलने का आह्वान करते हैं। बाप को सभी से प्यारे ते प्यारा काम है ही बच्चों से मिलने का। चाहे अव्यक्त रूप में, चाहे व्यक्त रूप में। बाप की दिनचर्या का विशेष कार्य सिकीलधे स्नेही बच्चों से मिलने का है। उन्हों को सजाने, पालना करने, समान बनाए विश्व के आगे निमित्त बनाना, यही कार्य है। इसी में बिज़ी रहते हैं। साइन्स वालों को प्रेरते हैं, वह भी बच्चों के लिए। भक्तों को भावना का फल देते हैं तो भी बच्चों को ही आगे करते हैं। बिन्दू को तो कोई जानता नहीं। देवी-देवताओं को ही जानते हैं। भक्तों के आगे भी बच्चों को ही प्रत्यक्ष करते हैं। सबको मुक्ति में ले जाते हैं तो भी आप बच्चों को सुख-शान्तिमय राज्य देने के लिए। अच्छा।

ऐसे सदा के स्वराज्य अधिकारी, सदा अटल अखण्ड, अचल स्थिति में स्थित रहने वाले, सदा रुहानी नशे में अविनाशी रहने वाले, डबल राज्य अधिकारी, बापदादा के नयनों में समाये हुए नूरे रत्नों को बापदादा का याद-प्यार और नमस्ते।

दादी जी मद्रास, बैंगलूर, मैसूर तथा कलकत्ता का चक्र लगाकर मधुबन पहुँची हैं, दादी जी को देख बापदादा बोले:-

कदमों में पदमों की सेवा समाई हुई है। चक्रवर्ती बन चक्र लगाए अपने यादगार स्थान बना लिए। कितने तीर्थ बने! महावीर बच्चों का चक्र लगाना माना यादगार बनना। हर चक्र में अपनी-अपनी विशेषता होती है। इस चक्र में भी कई आत्माओं के दिलों की आशा पूर्ण करने की विशेषता रही। यह दिल की आशा पूर्ण करना अर्थात् वरदानी बनना। वरदानी भी बनी और महादानी भी बनी। ड्रामा अनुसार जो प्रोग्राम बनता है उसमें कई राज़ भरे हुए होते हैं। राज़ उड़ाके ले जाते हैं। अच्छा-

जानकी दादी से:- आप सभी को नाम का दान देती हो! नाम का दान क्या है? आपका नाम क्या है! नाम का दान देना अर्थात् ट्रस्टी बनकर वरदान देना। आपका नाम लेते ही सबको क्या याद आयेगा? सेकण्ड में जीवन मुक्ति। ट्रस्टी बनना। यह आपके नाम की विशेषता है इसलिए नामदान भी दे दो तो किसका भी बेड़ा पार हो जायेगा। बाप ने अभी आपके ट्रस्टीपन की विशेषता का गायन किया है, वही यादगार है। वही जनक अक्षर उनको मिल गया होगा। एक ही जनक की दो कहानियां हैं। एक जनक जो सेकण्ड में विदेही बन गया। दूसरा जनक जो सेकण्ड में ट्रस्टी बन गया। मेरा नहीं तेरा। त्रेता वाला जनक भी दिखाते हैं। लेकिन आप तो बाप की जनक हो, सीता वाली नहीं। नाम दान का महत्व क्यों हैं, इस पर क्लास कराना। नाम की नईया द्वारा भी पार हो जाते हैं। और कुछ समझ में न भी आये लेकिन शिवबाबा, शिवबाबा भी कहा तो स्वर्ग की गेट पास तो मिल जाती है। अच्छा।

आस्ट्रेलिया पार्टी से:- बापदादा को आस्ट्रेलिया निवासी अति प्रिय हैं, क्यों? आस्ट्रेलिया की विशेषता क्या है? आस्ट्रेलिया की विशेषता है जो स्वयं में हिम्मत रख चारों ओर सेवाधारी बन सेवा स्थान खोलने की विधि अच्छी है। जहाँ हिम्मत है वहाँ बाप हिम्मत वाले बच्चों को देख विशेष खुश होते हैं। लण्डन की भी विशेषता है वहाँ विशेष पालना अनेक अनुभवी रत्नों द्वारा मिलती रहती है और आस्ट्रेलिया को इतनी पालना का चांस नहीं मिलता है। लेकिन फिर भी अपने पांव पर खड़े होकर सेवा में वृद्धि और सफलता अच्छी कर रहे हैं। सभी याद और सेवा के शौक में अच्छे रहते हैं। याद में अच्छी रुचि रखते हैं इसलिए आगे बढ़ रहे हैं और बढ़ते रहेंगे। मैजारिटी निर्विघ्न हैं। कुछ अच्छे-अच्छे बच्चे चले भी गये हैं। लेकिन फिर भी बाप को अभी भी याद करते रहते हैं इसलिए उन्हों के प्रति भी सदा शुभ भावना रख उन्हों को भी फिर से बाप के समीप जरूर लाना है। ऐसा उमंग आता है ना। थोड़ा बहुत वृक्ष से फल तो गिरते ही हैं, नई बात नहीं है इसलिए अभी स्वयं को और दूसरों को ऐसा पक्का बनाओ जो भी सफलता स्वरूप बनें। यह ग्रुप जो आया है, वह पक्का है ना। माया तो नहीं पकड़ेगी। अगर कोई कमजोरी हो भी तो यहाँ मधुबन में सम्पन्न होकर ही जाना। मधुबन से अमर भव का वरदान लेकर जाना। ऐसा वरदान सदा अपने साथ रखना और दूसरों को भी इसी वरदान से सुरजीत करना। बापदादा को डबल विदेशी बच्चों पर नाज़ हैं। आपको भी बाप पर नाज़ है ना! आपको भी यह नशा है ना कि सारे विश्व में से हमने बाप को पहचाना। सदा इसी नशे और खुशी में अविनाशी रहो। अभी बापदादा ने सभी का फोटो निकाल लिया है। फिर फोटो दिखायेंगे कि देखो आप आये थे। माया के भी नॉलेजफुल बनकर चलो। नॉलेजफुल कभी भी धोखा नहीं खाते क्योंकि माया कब आती और कैसे आती, इसकी नॉलेज होने कारण सदा सेफ रहते हैं। मालूम है ना कि माया कब आती है? जब बाप से किनारा कर अकेले बनते हो तब माया आती है। सदा कम्बाइन्ड रहने से माया कभी नहीं आयेगी। आस्ट्रेलिया की विशेषता है जो अधिकतर पाण्डव सेना जिम्मेवार है। नहीं तो मैजारिटी शक्तियां होती हैं। यहाँ पाण्डवों ने कमाल की है। पाण्डव अर्थात् पाण्डव पति के सदा साथ रहने वाले। हिम्मत अच्छी की है, बापदादा बच्चों की सेवा पर मुबारक देते हैं। अभी सिर्फ अविनाशी भव का वरदान सदा साथ रखना। अच्छा।

ब्राजील:- बापदादा जानते हैं कि स्नेही आत्मायें स्नेह के सागर में समाई हुई रहती हैं। कितना भी शरीर से दूर रहते हैं लेकिन सदा स्नेही बच्चे बापदादा के सम्मुख हैं। लगन सभी विघ्नों को पार कराते हुए बाप के समीप पहुँचाने में मददगार बनती हैं, इसीलिए बापदादा बच्चों को मुबारक दे रहे हैं। बापदादा जानते हैं कि कितनी मेहनत को मुहब्बत में परिवर्तन कर यहाँ तक पहुँचते हैं इसीलिए स्नेह के हाथों से बापदादा बच्चों को सदा दबाते रहते हैं। जो अति स्नेही बच्चे होते हैं उनकी माँ-बाप सदैव मालिश करते हैं ना प्यार से। बापदादा बच्चों के तकदीर के सितारे को देखते हैं। चमकते हुए सितारे हो। देश की हालत क्या भी हो लेकिन बाप के बच्चे सदा बाप के स्नेह में रहने के कारण सेफ रहेंगे। बापदादा की छत्रछाया सदा साथ है। ऐसे लाडले सिकीलधे हो। बच्चों ने अनेक पत्रों की माला बापदादा के गले में डाली, सभी बच्चों को इसके रिटर्न में बापदादा याद प्यार दे रहे हैं। सबको कहना कि जितने प्यार से पत्र लिखे हैं, समाचार दिये हैं, उतने ही स्नेह से उसे स्वीकार किया और हिम्मते बच्चे मददे बाप सदा ही है और सदा ही रहेगा। माला मिली और माला के मणकों की माला अभी भी बापदादा सिमरण कर रहे हैं।

बापदादा जानते हैं कि तन से भल दूर हैं लेकिन मन से मधुबन निवासी हैं। मन से सदा मनमनाभव होने के कारण बाप के समीप और सम्मुख हैं। ऐसे समीप और सम्मुख रहने वाले बच्चों को बापदादा सम्मुख देख नाम सहित हरेक को याद-प्यार दे रहे हैं और सदा श्रेष्ठ बन श्रेष्ठ बनाने की सेवा में आगे बढ़ते रहो, यह वरदान सभी सिकीलधे बच्चों को दे रहे हैं। सभी अपने नाम सहित याद-प्यार स्वीकार करें। अच्छा।

वरदान:- शान्ति की शक्ति द्वारा सर्व को आकर्षित करने वाले मास्टर शान्ति देवा भव 
जैसे वाणी द्वारा सेवा करने का तरीका आ गया है ऐसे अब शान्ति का तीर चलाओ, इस शान्ति की शक्ति द्वारा रेत में भी हरियाली कर सकते हो। कितना भी कड़ा पहाड़ हो उसमें भी पानी निकाल सकते हो। इस शान्ति की महान शक्ति को संकल्प, बोल और कर्म में प्रैक्टिकल लाओ तो मास्टर शान्ति देवा बन जायेंगे। फिर शान्ति की किरणें विश्व की सर्व आत्माओं को शान्ति के अनुभूति की तरफ आकर्षित करेंगी और आप शान्ति के चुम्बक बन जायेंगे।
स्लोगन:- आत्म-अभिमानी स्थिति का व्रत धारण कर लो तो वृत्तियाँ परिवर्तन हो जायेंगी।

 

सूचना:- आज मास का तीसरा रविवार है सभी भाई बहिनें सायं 6.30 से 7.30 बजे तक विशेष संगठित रूप से विश्व में शान्ति और शक्ति के वायब्रेशन फैलाने की सेवा करें। यही स्वमान स्मृति में रहे कि मैं विश्व के अंधकार को समाप्त करने वाली मास्टर ज्ञान सूर्य आत्मा हूँ।

Font Resize