16 october ki murli

TODAY MURLI 16 OCTOBER 2020 DAILY MURLI (English)

16/10/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to become praiseworthy by serving at the confluence age. You will then become the most elevated human beings and worthy of worship in the future.
Question: By finishing which illness at its roots will you be able to climb into the Father’s heart?
Answer: 1. The illness of body consciousness. Because of this body consciousness, all the vices have made you greatly diseased. Only when this body consciousness finishes can you climb into the Father’s heart.
2. In order to climb into the heart, make your intellect broad and unlimited and sit on the pyre of knowledge. Engage yourself in doing spiritual service. Together with speaking knowledge, remember the Father very well.
Song: Awaken! O brides, awaken! Your days of happiness are about to come.

Om shanti. You sweetest, spiritual children heard the song. The spiritual Father said this through the mouth of this ordinary old body. The Father says: I had to come into this old body, into this old kingdom. This is now the kingdom of Ravan. This body belongs to someone else because there was already a soul in it when I entered it. I enter a foreign body. If I had a body of My own, it would have a name of its own. My name never changes. You still call Me Shiv Baba. You children hear these songs every day. The new age, which means the new world, the golden age, is to come. Who are being told to awaken? Souls, because souls are sleeping in extreme darkness. They don’t know anything; they don’t even know the Father. The Father has now come to awaken you. You now know the unlimited Father. You are to receive unlimited happiness from Him in the new age. The golden age is called the new age; the iron age is called the old age. Scholars and pundits don’t know anything. If you ask any of them how the new age becomes old, not one of them could tell you. They say that it’s a matter of hundreds of thousands of years. You now understand how you came into the old age from the new age, that is, how you became residents of hell from residents of heaven. Human beings know nothing at all. They don’t even know the biography of those they worship. They worship Jagadamba, but they don’t know who Amba is. In fact, mothers are called Amba, but it should only be one who is worshipped. There is only one unadulterated memorial of Shiv Baba. There is also only one Amba. However they don’t know who Jagadamba is. This one is Jagadamba (the world mother) and Lakshmi is the world empress. You know who the world mother is and who the world empress is. No one else can understand these things. Lakshmi is called a deity, whereas Jagadamba is called a Brahmin. Brahmins only exist at the confluence age. No one knows this confluence age. The new, most elevated world is created through Prajapita Brahma. You are able to see the most elevated human beings there (in the golden age). At this time, you Brahmins are worthy of praise. You are now servers and will then become worthy of being worshipped. Brahma has been shown with so many arms. So, why should Amba not be shown with as many? Everyone is her child too. Prajapita also becomes the mother and father. Children are not called Prajapita. In the golden age, Lakshmi and Narayan are never called the world mother and world father. The name “Prajapita” is very well known. The father and mother of the world is only one. All the rest are his children. When you go to the temple of Prajapita Brahma in Ajmer, you can refer to him as Baba, because he is the Father of Humanity. Physical fathers create children. Therefore, they are limited fathers of people. This one is unlimited. Shiv Baba is the unlimited Father of all souls. You children have to write about this contrast. Jagadamba and Saraswati are one, and yet so many names have been given: Durga, Kali etc. All of you are the children of Amba and Baba. This is the creation. Saraswati is the daughter of Prajapita Brahma and she is also called Amba. All the rest are sons and daughters and they are all adopted. How else could there be so many children? All of them are mouth-born creations. A wife is created through a mouth and so the husband becomes a creator. He says, “This one is mine; I have created children with her.” All of these are by adoption. These are spiritual creations through a mouth. Souls exist anyway; they are not adopted. The Father says: You souls are always My children. I come and adopt you children through Prajapita Brahma. He doesn’t adopt souls. He adopts sons and daughters. These are very subtle matters that have to be understood. By understanding these things you become Lakshmi and Narayan. We can explain how they became that. What acts did they perform that they became the masters of the world? You can ask at the exhibitions: Do you know how they attained their kingdom of heaven? Not every one of you is able to explain accurately. Those who have divine virtues and who remain busy in doing spiritual service are able to explain. Everyone else is trapped in Maya’s illness. There are many types of disease. There is also the disease of body consciousness. It is the vices that make you diseased. The Father says: I make you into pure deities. You were once full of all virtues, completely pure. You have now become completely impure. The unlimited Father says this. This is not a matter of defamation but just an explanation. The unlimited Father says to the people of Bharat: I come here into Bharat. The praise of Bharat is unlimited. He comes here and changes hell into heaven and grants everyone else peace. Therefore, the praise of such a Father is also infinite; there is no end to it. No one knows Jagadamba or her praise. You can show the contrast between the biography of Jagadamba and the biography of Lakshmi. Jagadamba becomes Lakshmi. Then, after taking 84 births, Lakshmi becomes the same Jagadamba. You should keep different types of picture. They portray Lakshmi with an urn, but how could Lakshmi exist at the confluence age? She only exists in the golden age. The Father explains all of these things. Those who have been appointed to make the pictures should also churn the ocean of knowledge. It will then become easy to explain. Only when you have a broad and unlimited intellect can you climb into the Father’s heart. You will be able to climb into the Father’s heart when you remember the Father very well and sit on the pyre of knowledge. It isn’t that those who can speak knowledge very well are able to climb into the Father’s heart; no. The Father says: You will be able to climb into the heart, numberwise, at the end, when you finish body consciousness according to the efforts you make. The Father has explained that those with the knowledge of the brahm element make a lot of effort to merge into it, but no one can merge into it like that. They make effort and attain a high status. They become such great souls that they are weighed against platinum. After all, they do make the effort to merge into the brahm element and they therefore receive the fruit of their efforts. However, they cannot receive liberation or liberation-in-life. You children know that this old world is about to go. All of those bombs have not been created just to be stored. You know that those bombs will be used for the destruction of the old world. There are many types of bombThe Father is now teaching you knowledge and yoga and you will then become the double-crowned princes and princesses, deities. Which status is higher? The Brahmin topknot is at the top. The topknot is the highest of all. The Father has now come to make you children pure from impure. Do you have the intoxication that you are also becoming purifiers, that you are purifying everyone and making them into princes and princesses? If you were to have this intoxication, you would have a lot of happiness. Ask your heart how many you are making similar to yourself. Prajapita Brahma and Jagadamba are similar. They are creating the creation of Brahmins. Only the Father shows you the way to change from shudras into Brahmins. This is not mentioned in any of the scriptures. This is the age of the Gita. There truly was the Mahabharat War. Would only one person have been taught Raj Yoga? This is why people only have Arjuna and Krishna in their intellects. So many of you are studying here. Just see how you are sitting here in an ordinary way. Little children study alpha and beta. You are sitting here and you too are being taught Alpha and beta. Alpha is Baba and beta is your inheritance. The Father says: Remember Me and you will become the masters of the world. Don’t perform any devilish acts. Imbibe divine virtues. Check that you don’t have any defects in you. “I am without virtue, I have no virtues.” There is an ashram called the Nirgun Ashram, but they don’t know the meaning of that name. “Nirgun” means “I have no virtues.” It is the Father’s task to make you virtuous. They have taken the hat of the Father’s title for themselves. The Father explains so many things and also gives you directions. Show the contrast between Jagadamba and Lakshmi. Brahma and Saraswati belong to the confluence age, whereas Lakshmi and Narayan belong to the golden age. These pictures are to be used for explaining. Saraswati is the daughter of Brahma. You are studying to change from ordinary humans into deities. You are now Brahmins. Golden-aged deities are also human beings, but they are called deities. It is like an insult to call them human beings and this is why they are called deities or gods and goddesses. If kings and queens were called gods and goddesses, their subjects would then also have to be called that. This is why they are called deities. There is also the picture of the Trimurti. In the golden age, there are very few human beings, whereas in the iron age there are very many human beings. How can this be explained? The picture of the cycle is definitely needed for this. You invite so many people to come to the exhibitions. As yet, no one has invited the Customs Collector. You have to churn in this way. An unlimited and broad intellect is needed for this. You should have regard for the Father. They decorate the horse of Hussein so much. The band on the horse’s head is so small, whereas the horse is so big. A soul is just a tiny point, and yet his decoration is so large. This is the throne of the immortal image. They have taken up the aspect of omnipresence from the Gita. The Father says: I am teaching you souls Raj Yoga. Therefore, how could I be omnipresent? How could the Father, the Teacher and the Guru be omnipresent? The Father says: I am your Father and also the Ocean of Knowledge. When you understand this unlimited history and geography, you receive the unlimited kingdom. You also have to imbibe divine virtues. Maya catches hold of you by the nose. When someone’s activity becomes dirty, he writes to Baba saying that he has made such a mistake. He says, “I have dirtied my face.” Here, you are taught purity. So then, if someone falls, what can the Father do about it? If a child performs dirty actions at home and dirties his face, his father would say, “It would be better if you were dead!” Although the unlimited Father knows that this is in the drama, He too would say this, would He not? After giving these teachings to others, if you yourself fall, you accumulate one thousand-fold punishment. Some say: Maya slapped me. Maya punches you in such a way that you completely lose all your wisdom. The Father continues to explain: Those eyes deceive you a lot. Never perform any sinful acts. Many storms will come because you are on a battlefield. You don’t know what could happen. Maya quickly slaps you. You are now becoming so sensible. It is souls that become sensible; it is souls that were senseless. The Father is now making us sensible. Many are still body conscious. They don’t understand that they are souls. The Father is teaching us souls. I, a soul, listen through these ears. The Father says: Don’t allow your ears to hear anything vicious. The Father is making you into the masters of the world. This is a very high destination. As death comes closer you will be afraid. When someone is about to die, that person is told by his friends and relatives: “Remember God!” or “Remember your guru!” They teach you to remember bodily beings. The Father says: Constantly remember Me alone. This is in the intellects of you children. The Father orders you constantly to remember Him alone. Don’t remember bodily beings. The mother and father are also bodily beings, are they not? I am completely without an image. I am bodiless. I sit in this one and give you knowledge. You are now learning knowledge and yoga. You say that you are studying this knowledge with the Father, the Ocean of Knowledge, in order to become princes and princesses. The Ocean of Knowledge teaches you knowledge and also teaches you Raj Yoga. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-last and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become sensible and never be defeated by storms of Maya. Your eyes deceive you and you therefore have to take care of yourself. Don’t allow your ears to hear anything vicious.
  2. Ask your heart: How many have I made similar to myself? Have I become a master purifier and am I doing the service of purifying others (making them into princes and princesses)? Do I have any defects in me? To what extent have I imbibed divine virtues?
Blessing: May you become the merciful children of the Merciful Father and show everyone their destination.
When merciful children of the Merciful Father see anyone acting like a beggar, they would feel mercy for that soul, that he should be benefitted and find his destination. Whoever of you comes into contact with such souls, you would definitely give them the Father’s introduction. When someone comes to your home, you would first of all offer them water and if that person were to leave without accepting anything, it would be considered bad. In the same way, whoever comes into connection with you, you must definitely offer them the water of the Father’s introduction, that is, as children of the Bestower, be bestowers and definitely give them something, so that they reach their destination.
Slogan: The easy meaning of “an accurate attitude of disinterest”, is to be as loving as you are detached.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 16 OCTOBER 2020 : AAJ KI MURLI

16-10-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम्हें संगम पर सेवा करके गायन लायक बनना है फिर भविष्य में पुरूषोत्तम बनने से तुम पूजा लायक बन जायेंगे”
प्रश्नः- कौन सी बीमारी जड़ से समाप्त हो तब बाप की दिल पर चढ़ेंगे?
उत्तर:- 1. देह-अभिमान की बीमारी। इसी देह-अभिमान के कारण सभी विकारों ने महारोगी बनाया है। यह देह-अभिमान समाप्त हो जाए तो तुम बाप की दिल पर चढ़ो। 2. दिल पर चढ़ना है तो विशाल बुद्धि बनो, ज्ञान चिता पर बैठो। रूहानी सेवा में लग जाओ और वाणी चलाने के साथ-साथ बाप को अच्छी रीति याद करो।
गीत:- जाग सजनियां जाग……..

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चों ने गीत सुना – रूहानी बाप ने इस साधारण पुराने तन द्वारा मुख से कहा। बाप कहते हैं मुझे पुराने तन में पुरानी राजधानी में आना पड़ा। अभी यह रावण की राजधानी है। तन भी पराया है क्योंकि इस शरीर में तो पहले से ही आत्मा है। मैं पराये तन में प्रवेश करता हूँ। अपना तन होता तो उसका नाम पड़ता। हमारा नाम बदलता नहीं। मुझे फिर भी कहते हैं शिवबाबा। गीत तो बच्चे रोज़ सुनते हैं। नवयुग अर्थात् नई दुनिया सतयुग आया। अब किसको कहते हैं जागो? आत्माओं को क्योंकि आत्मायें घोर अन्धियारे में सोई पड़ी हैं। कुछ भी समझ नहीं। बाप को ही नहीं जानते। अब बाप जगाने आये हैं। अभी तुम बेहद के बाप को जानते हो। उनसे बेहद का सुख मिलना है नये युग में। सतयुग को नया कहा जाता है, कलियुग को पुराना युग कहेंगे। विद्वान, पण्डित आदि कोई भी नहीं जानते। कोई से भी पूछो नया युग फिर पुराना कैसे होता है, तो कोई भी बता नहीं सकेंगे। कहेंगे यह तो लाखों वर्ष की बात है। अभी तुम जानते हो हम नये युग से फिर पुराने युग में कैसे आये हैं अर्थात् स्वर्गवासी से नर्कवासी कैसे बने हैं। मनुष्य तो कुछ भी नहीं जानते, जिनकी पूजा करते हैं उनकी बायोग्राफी को भी नहीं जानते। जैसे जगदम्बा की पूजा करते हैं अब वह अम्बा कौन है, जानते नहीं। अम्बा वास्तव में माताओं को कहा जाता है। परन्तु पूजा तो एक की होनी चाहिए। शिवबाबा का भी एक ही अव्यभिचारी यादगार है। अम्बा भी एक है। परन्तु जगत अम्बा को जानते नहीं। यह है जगत अम्बा और लक्ष्मी है जगत की महारानी। तुमको पता है कि जगत अम्बा कौन है और जगत महारानी कौन है। यह बातें कभी कोई जान न सके। लक्ष्मी को देवी और जगत अम्बा को ब्राह्मणी कहेंगे। ब्राह्मण संगम पर ही होते हैं। इस संगमयुग को कोई नहीं जानते। प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा नयी पुरूषोत्तम सृष्टि रची जाती है। पुरूषोत्तम तुमको वहाँ देखने में आयेंगे। इस समय तुम ब्राह्मण गायन लायक हो। सेवा कर रहे हो फिर तुम पूजा लायक बनेंगे। ब्रह्मा को इतनी भुजायें देते हैं तो अम्बा को भी क्यों नहीं देंगे। उनके भी तो सब बच्चे हैं ना। माँ-बाप ही प्रजापिता बनते हैं। बच्चों को प्रजापिता नहीं कहेंगे। लक्ष्मी-नारायण को कभी सतयुग में जगतपिता जगत माता नहीं कहेंगे। प्रजापिता का नाम बाला है। जगत पिता और जगत माता एक ही है। बाकी हैं उनके बच्चे। अजमेर में प्रजापिता ब्रह्मा के मन्दिर में जायेंगे तो कहेंगे बाबा क्योंकि है ही प्रजापिता। हद के पितायें बच्चे पैदा करते हैं तो वह हद के प्रजापिता ठहरे। यह है बेहद का। शिवबाबा तो सब आत्माओं का बेहद का बाप है। यह भी तुम बच्चों को कान्ट्रास्ट लिखना है। जगत अम्बा सरस्वती है एक। नाम कितने रख दिये हैं – दुर्गा, काली आदि। अम्बा और बाबा के तुम सब बच्चे हो। यह रचना है ना। प्रजापिता ब्रह्मा की बेटी है सरस्वती, उनको अम्बा कहते हैं। बाकी हैं बच्चे और बच्चियां। हैं सब एडाप्टेड। इतने सब बच्चे कहाँ से आ सकते हैं। यह सब हैं मुख वंशावली। मुख से स्त्री को क्रियेट किया तो रचता हो गया। कहते हैं यह मेरी है। मैंने इनसे बच्चे पैदा किये हैं। यह सब है एडाप्शन। यह फिर है ईश्वरीय, मुख द्वारा रचना। आत्मायें तो हैं ही। उनको एडाप्ट नहीं किया जाता है। बाप कहते हैं तुम आत्मायें सदैव मेरे बच्चे हो। फिर अभी मैं आकर प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा बच्चों को एडाप्ट करता हूँ। बच्चों (आत्माओं) को नहीं एडाप्ट करते, बच्चे और बच्चियों को करते हैं। यह भी बड़ी सूक्ष्म समझने की बातें हैं। इन बातों को समझने से तुम यह लक्ष्मी-नारायण बनते हो। कैसे बनें, यह हम समझा सकते हैं। क्या ऐसे कर्म किये जो यह विश्व के मालिक बनें। तुम प्रदर्शनी आदि में भी पूछ सकते हो। तुमको मालूम है इन्हों ने यह स्वर्ग की राजधानी कैसे ली। तुम्हारे में भी यथार्थ रीति हर कोई नहीं समझा सकते। जिनमें दैवीगुण होंगे, इस रूहानी सर्विस में लगे हुए होंगे वह समझा सकते हैं। बाकी तो माया की बीमारी में फँसे रहते हैं। अनेक प्रकार के रोग हैं। देह-अभिमान का भी रोग है। इन विकारों ने ही तुमको रोगी बनाया है।

बाप कहते हैं मैं तुमको पवित्र देवता बनाता हूँ। तुम सर्वगुण सम्पन्न……पवित्र थे। अभी पतित बन गये हो। बेहद का बाप ऐसे कहेंगे। इसमें निंदा की बात नहीं, यह समझाने की बात है। भारतवासियों को बेहद का बाप कहते हैं मैं यहाँ भारत में आता हूँ। भारत की महिमा तो अपरमअपार है। यहाँ आकर नर्क को स्वर्ग बनाते हैं, सबको शान्ति देते हैं। तो ऐसे बाप की भी महिमा अपरमअपार है। पारावार नहीं। जगत अम्बा और उनकी महिमा को कोई भी नहीं जानते। इनका भी कान्ट्रास्ट तुम बता सकते हो। यह जगत अम्बा की बायोग्राफी, यह लक्ष्मी की बायोग्राफी। वही जगत अम्बा फिर लक्ष्मी बनती है। फिर लक्ष्मी सो 84 जन्मों के बाद जगत अम्बा होगी। चित्र भी अलग-अलग रखने चाहिए। दिखाते हैं लक्ष्मी को कलष मिला परन्तु लक्ष्मी फिर संगम पर कहाँ से आई। वह तो सतयुग में हुई है। यह सब बातें बाप समझाते हैं। चित्र बनाने के ऊपर जो मुकरर हैं उनको विचार सागर मंथन करना चाहिए। तो फिर समझाना सहज होगा। इतनी विशाल बुद्धि चाहिए तब दिल पर चढ़े। जब बाबा को अच्छी रीति याद करेंगे, ज्ञान चिता पर बैठेंगे तब दिल पर चढ़ेंगे। ऐसे नहीं कि जो बहुत अच्छी वाणी चलाते हैं, वह दिल पर चढ़ते हैं। नहीं, बाप कहते हैं दिल पर अन्त में चढ़ेंगे, नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार जब देह-अभिमान खत्म हो जायेगा।

बाप ने समझाया है ब्रह्म ज्ञानी, ब्रह्म में लीन होने की मेहनत करते हैं परन्तु ऐसे कोई लीन हो नहीं सकता। बाकी मेहनत करते हैं, उत्तम पद पाते हैं। ऐसे-ऐसे महात्मा बनते हैं जो उनको प्लेटेनियम में वज़न करते हैं क्योंकि ब्रह्म में लीन होने की मेहनत तो करते हैं ना। तो मेहनत का भी फल मिलता है। बाकी मुक्ति-जीवनमुक्ति नहीं मिल सकती। तुम बच्चे जानते हो अब यह पुरानी दुनिया गई कि गई। इतने बॉम्ब्स बनाये हैं – रखने के लिए थोड़ेही बनाये हैं। तुम जानते हो पुरानी दुनिया के विनाश लिए यह बॉम्ब्स काम आयेंगे। अनेक प्रकार के बॉम्ब्स हैं। बाप ज्ञान और योग सिखलाते हैं फिर राज-राजेश्वर डबल सिरताज देवी-देवता बनेंगे। कौन-सा ऊंच पद है। ब्राह्मण चोटी हैं ऊपर में। चोटी सबसे ऊपर है। अभी तुम बच्चों को पतित से पावन बनाने बाप आये हैं। फिर तुम भी पतित-पावनी बनते हो – यह नशा है? हम सबको पावन बनाए राज-राजेश्वर बना रहे हैं? नशा हो तो बहुत खुशी में रहें। अपनी दिल से पूछो हम कितने को आपसमान बनाते हैं? प्रजापिता ब्रह्मा और जगत-अम्बा दोनों एक जैसे हैं। ब्राह्मणों की रचना रचते हैं। शूद्र से ब्राह्मण बनने की युक्ति बाप ही बताते हैं। यह कोई शास्त्रों में नहीं है। यह है भी गीता का युग। महाभारत लड़ाई भी बरोबर हुई थी। राजयोग एक को सिखाया होगा क्या। मनुष्यों की बुद्धि में फिर अर्जुन और कृष्ण ही हैं। यहाँ तो ढेर पढ़ते हैं। बैठे भी देखो कैसे साधारण हो। छोटे बच्चे अल्फ बे पढ़ते हैं ना। तुम बैठे हो तुमको भी अल्फ बे पढ़ा रहे हैं। अल्फ और बे, यह है वर्सा। बाप कहते हैं मुझे याद करो तो तुम विश्व के मालिक बनेंगे। कोई भी आसुरी काम नहीं करना है। दैवीगुण धारण करने हैं। देखना है हमारे में कोई अवगुण तो नहीं हैं? मैं निर्गुण हारे में कोई गुण नाहीं। अभी निर्गुण आश्रम भी है परन्तु अर्थ कुछ भी नहीं। निर्गुण अर्थात् मेरे में कोई गुण नहीं। अब गुणवान बनाना तो बाप का ही काम है। बाप के टाइटिल की टोपी फिर अपने ऊपर रख दी है। बाप कितनी बातें समझाते हैं। डायरेक्शन भी देते हैं। जगत अम्बा और लक्ष्मी का कान्ट्रास्ट बनाओ। ब्रह्मा-सरस्वती संगम के, लक्ष्मी-नारायण हैं सतयुग के। यह चित्र हैं समझाने के लिए। सरस्वती ब्रह्मा की बेटी है। पढ़ते हैं मनुष्य से देवता बनने के लिए। अभी तुम ब्राह्मण हो। सतयुगी देवता भी मनुष्य ही हैं परन्तु उन्हों को देवता कहते, मनुष्य कहने से जैसे उनकी इन्सल्ट हो जाती है इसलिए देवी-देवता वा भगवान-भगवती कह देते हैं। अगर राजा-रानी को भगवान-भगवती कहें तो फिर प्रजा को भी कहना पड़े, इसलिए देवी-देवता कहा जाता है। त्रिमूर्ति का चित्र भी है। सतयुग में इतने थोड़े मनुष्य, कलियुग में इतने बहुत मनुष्य हैं। वह कैसे समझायें। इसके लिए फिर गोला भी जरूर चाहिए। प्रदर्शनी में इतने सबको बुलाते हैं। कस्टम कलेक्टर को तो कभी कोई ने निमंत्रण नहीं दिया है। तो ऐसे-ऐसे विचार चलाने पड़ें, इसमें बड़ी विशालबुद्धि चाहिए।

बाप का तो रिगार्ड रखना चाहिए। हुसेन के घोड़े को कितना सजाते हैं। पटका कितना छोटा होता, घोड़ा कितना बड़ा होता है। आत्मा भी कितनी छोटी बिन्दी है, उनका श्रृंगार कितना बड़ा है। यह अकालमूर्त का तख्त है ना। सर्वव्यापी की बात भी गीता से उठाई है। बाप कहते हैं मैं आत्माओं को राजयोग सिखलाता हूँ फिर सर्वव्यापी कैसे होंगे। बाप-टीचर-गुरू सर्वव्यापी कैसे होंगे। बाप कहते हैं मैं तो तुम्हारा बाप हूँ फिर ज्ञान सागर हूँ। तुमको बेहद की हिस्ट्री-जॉग्राफी समझने से बेहद का राज्य मिल जायेगा। दैवीगुण भी धारण करने चाहिए। माया एकदम नाक से पकड़ लेती है। चलन गन्दी हो पड़ती फिर लिखते हैं ऐसी-ऐसी भूल हो गई। हमने काला मुँह कर लिया। यहाँ तो पवित्रता सिखाई जाती है फिर अगर कोई गिरेंगे भी तो फिर उसमें बाप क्या कर सकते हैं। घर में कोई बच्चा गन्दा हो पड़ता है, काला मुँह कर देता है तो बाप कहते हैं तुम तो मर जाते तो अच्छा है। बेहद का बाप भल ड्रामा को जानते हैं फिर भी कहेंगे तो सही ना। तुम औरों को शिक्षा देकर खुद गिरते हो तो हज़ार गुणा पाप चढ़ जाता है। कहते हैं माया ने थप्पड़ मार दिया। माया ऐसा घूँसा मारती है जो एकदम अक्ल ही गुम कर देती है।

बाप समझाते रहते हैं, आंखें बड़ी धोखेबाज हैं। कभी भी कोई विकर्म नहीं करना है। तूफान तो बहुत आयेंगे क्योंकि युद्ध के मैदान में हो ना। पता भी नहीं पड़ता कि क्या होगा। माया झट थप्पड़ लगा देती है। अभी तुम कितने समझदार बनते हो। आत्मा ही समझदार बनती है ना। आत्मा ही बेसमझ थी। अब बाप समझदार बनाते हैं। बहुत देह-अभिमान में हैं। समझते नहीं कि हम आत्मा हैं। बाप हम आत्माओं को पढ़ाते हैं। हम आत्मा इन कानों से सुन रही हैं। अब बाप कहते हैं कोई भी विकार की बात इन कानों से न सुनो। बाप तुम्हें विश्व का मालिक बनाते हैं, मंजिल बहुत बड़ी है। मौत जब नज़दीक आयेगा तो फिर तुमको डर लगेगा। मनुष्यों को मरने के समय भी मित्र-सम्बन्धी आदि कहते हैं ना – भगवान को याद करो या कोई अपने गुरू आदि को याद करेंगे। देहधारी को याद करना सिखलाते हैं। बाप तो कहते हैं मामेकम् याद करो। यह तो तुम बच्चों की ही बुद्धि में है। बाप फरमान करते हैं – मामेकम् याद करो। देहधारियों को याद नहीं करना है। माँ-बाप भी देहधारी हैं ना। मैं तो विचित्र हूँ, विदेही हूँ, इसमें बैठ तुमको ज्ञान देता हूँ। तुम अभी ज्ञान और योग सीखते हो। तुम कहते हो ज्ञान सागर बाप द्वारा हम ज्ञान सीख रहे हैं, राज-राजेश्वरी बनने के लिए। ज्ञान सागर ज्ञान भी सिखलाते हैं, राजयोग भी सिखलाते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) समझदार बन माया के तूफानों से कभी हार नहीं खाना है। आंखें धोखा देती हैं इसलिए अपनी सम्भाल करनी है। कोई भी विकारी बातें इन कानों से नहीं सुननी हैं।

2) अपनी दिल से पूछना है कि हम कितनों को आपसमान बनाते हैं? मास्टर पतित-पावनी बन सबको पावन (राज़-राज़ेश्वर) बनाने की सेवा कर रहे हैं? हमारे में कोई अवगुण तो नहीं है? दैवीगुण कहाँ तक धारण किये हैं?

वरदान:- सभी को ठिकाना देने वाले रहमदिल बाप के बच्चे रहमदिल भव
रहमदिल बाप के रहमदिल बच्चे किसी को भी भिखारी के रूप में देखेंगे तो उन्हें रहम आयेगा कि इस आत्मा को भी ठिकाना मिल जाए, इसका भी कल्याण हो जाए। उनके सम्पर्क में जो भी आयेगा उसे बाप का परिचय जरूर देंगे। जैसे कोई घर में आता है तो पहले उसे पानी पूछा जाता है, ऐसे ही चला जाए तो बुरा समझते हैं, ऐसे जो भी सम्पर्क में आता है उसे बाप के परिचय का पानी जरूर पूछो अर्थात् दाता के बच्चे दाता बनकर कुछ न कुछ दो ताकि उसे भी ठिकाना मिल जाए।
स्लोगन:- यथार्थ वैराग्य वृत्ति का सहज अर्थ है – जितना न्यारा उतना प्यारा।

TODAY MURLI 16 OCTOBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 16 October 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 15 October 2019:- Click Here

16/10/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, remove the rubbish of the vices from the soul and become a pure flower. Only by having remembrance of the Father will all the rubbish be removed.
Question: In which one aspect do the children who are becoming pure have to follow the Father?
Answer: The Father is supremely pure and doesn’t mix with souls who become impure with rubbish; He remains very sacred. Similarly, you children who are also becoming pure have to follow the Father. See no evil.

Om shanti. The Father sits here and explains to you children. Both are fathers. One is called the spiritual Father and the other is called a physical father. The body of both is one, and so it is as though both fathers are explaining. Although one explains and the other understands, it would still be said that both are explaining. There is so much dirt that has accumulated on such a tiny soul. So much loss is incurred when dirt is accumulated. This profit and loss is visible when souls are in their bodies. You know that when we souls become pure, we will receive bodies that are as pure as those of Lakshmi and Narayan. So much dirt is now accumulated on souls. When honey is collected, it is filtered, and so much rubbish is removed and the pure honey is separated. Souls too become very dirty. This soul was clean and completely pure and his body was so beautiful. Look how beautiful the bodies of Lakshmi and Narayan are. People only worship bodies; they don’t see the souls. They have no recognition of a soul. At first, souls were beautiful and they received pure bodies. You too now wish to become like them. So, souls have to become so pure. A soul is said to be tamopradhan because it is full of rubbish. It has the rubbish of body consciousness and also that of lust and anger. To remove the rubbish from something, it is filtered. When something is filtered, its colour changes. If you sit and think about this very well, you will feel that there is a lot of rubbish within you. There is the existence of Ravan in souls. By your staying in remembrance of the Father now, the rubbish will be removed. This too takes time. The Father explains: Because of having body consciousness, there is so much rubbish of the vices. The rubbish of anger is no less. It is as though an angry person burns within. His heart burns due to one thing or another. His face also becomes as red as copper. You souls now understand that you have become burnt. You now know how much dirt there is in souls. There are very few people who understand these things. First-class flowers are needed for this. There are many defects now. You have to remove all weaknesses and become completely pure. This Lakshmi and Narayan are so pure. In fact, no one has a right to touch them. Impure ones cannot go and touch such elevated, pure deity idols. They are not worthy of touching pure ones. No one can touch Shiva. He is incorporeal, and so He cannot be touched. He is the most pure. People keep a large image of Him, because no one can touch such a tiny point. When a soul enters a body, the body grows; the soul doesn’t become larger or smaller. This is the world of rubbish. There is so much rubbish in souls. Shiv Baba is very sacred. He is very pure. Here, everyone is made out to be the same. They even say to one another: You are like an animal! Such language is not used in the golden age. You now feel that a lot of dirt has accumulated on you souls. Souls are no longer worthy of having remembrance of the Father. Maya also considers souls to be unworthy and pushes them aside. The Father is so sacred! Look what we souls have become from what we were! The Father now explains: You called out to Me to come and make souls pure. Souls are filled with a lot of rubbish. Not all flowers in a garden are firstclass; they are numberwise. The Father is the Master of the Garden. Souls become so pure and then become so dirty! They become like thorns. There is the rubbish of body consciousness, lust and anger in souls. Human beings have so much anger in them. When you become pure, you won’t want to see anyone’s face – see no evil! You mustn’t even look at impure beings. When souls become pure and receive pure new bodies, they don’t see any rubbish at all; the world of rubbish ends. The Father explains: You have become such rubbish by becoming body conscious! You have become impure. Children call out: Baba, I have the evil spirit of anger in me. Baba, I have come to You to become pure. You know that the Father is everpure. People defame the Highest Authority so much by calling Him omnipresent. You also have so much dislike for yourselves because you can see what you were and what you have now become. Only you children understand these things. No one else can explain this aim or objective in any other spiritual gathering or university etc. You children now understand how souls have continued to accumulate rubbish. There was a reduction of two degrees, and then four degrees and souls continued to be filled with rubbish in this way, and this is why they are called tamopradhan. Some burn with greed and some burn with attachment and die. They will burn and die in that stage. You children now have to shed your bodies in remembrance of Shiv Baba who is making you become like them. The Father made Lakshmi and Narayan become like that. So, you have to remain very careful. Many storms will come. There are only storms of Maya; there are no other storms. Similarly, they have stories of Hanuman etc. in the scriptures. They say: God created the scriptures. God speaks the essence of all the Vedas and scriptures. God granted salvation, so why would He need to write scriptures? The Father says: Hear no evil! You cannot become elevated through those scriptures etc. I am separate from all of those. No one recognises Me. No one knows what the Father is. The Father knows who does His service, that is, only those who become benevolent and benefit others climb on to the Father’s heart. Some are such that they don’t even know about service. You children have received the knowledge of considering yourselves to be souls and remembering the Father. Although you souls become pure, your bodies are still impure. There is the difference of day and night between the activity of souls who become pure and those who don’t. It can also be known from their behaviour. No one’s name is mentioned. If their names were mentioned, they might become even worse. You can now see the difference between what you were and what you have to become. Therefore, you have to follow shrimat. All the rubbish you are filled with has to be removed. In worldly relationships too, the father gets fed up with his children if they become very dirty. He would say that it would be better if he hadn’t had a child like that. There is fragrance in a flower garden. However, according to the drama, there is also rubbish. No one even wants to look at an uck flower. However, when you go into a garden, your vision would fall on all the flowers. The soul would say: This one is such-and-such a flower. You would take fragrance from good flowers. The Father also sees how much some souls stay on the pilgrimage of remembrance, and how pure they have become and how they make others pure like themselves and how much knowledge they relate. The main thing is to be “Manmanabhav”. The Father says: Remember Me and you will become a pure flower. Lakshmi and Narayan were such pure flowers. Shiv Baba is still more sacred than that. People don’t know that Shiv Baba made Lakshmi and Narayan become like that. You know that they became that by making this effort. Rama made less effort and so he became part of the moon dynasty. The Father explains a great deal. Firstly, you have to stay on the pilgrimage of remembrance through which the rubbish can be removed and you souls can become pure. Many people come to you at the museums etc. You children have to have a lot of interest in doing service. You mustn’t renounce service and go to sleep. You have to remain very accurate in service. You people leave yourselves time for rest even at the museums. Your throats become tired and you do have to eat, but, day and night, you should have the enthusiasm inside yourselves to show the path to anyone who comes. If people come during meal times, you have to attend to them first and then take your meal. You should be those who do such service. Some have a lot of body consciousness and they become lords who love to rest. The Father has to explain to you: Renounce this lordship! The Father would also grant visions: Look at your status. You put the axe of body conscious on your foot by yourself. Many children compete with Baba. Ah! this is Shiv Baba’s chariot and it has to be looked after. There are some here who take a lot of medicine from doctors. Baba says: You have to keep your body healthy, but you also have to look at your stage. If you eat in remembrance of Baba, nothing will cause you any harm. By having remembrance you will be filled with power. Your food will become very pure. However, you don’t yet have that stage. Baba says: The food prepared by Brahmins is the highest of all, but that is only when they prepare it whilst staying in remembrance. By preparing it in remembrance, those who prepare it will benefit and those who eat it will also benefit. There are many who are like uck flowers. What status will those poor people claim? The Father has mercy for them. However, it is also fixed for some to become maids and servants. You mustn’t become happy with that. Some don’t even think: I have to become that! Instead of becoming maids and servants, it would be better if you become wealthy; you would then be able to have maids and servants. The Father says: Constantly remember Me alone and attain happiness by remembering Me. Devotees sat and created the rosary to rotate. That is the work of devotees. The Father simply says: Consider yourselves to be souls and remember the Father, that is all! You don’t have to chant mantras or turn rosaries. You have to know the Father and remember Him. You don’t have to say “Baba, Baba” through your lips. You know that He is the unlimited Father of us souls. By remembering Him, we will become satopradhan, that is, we souls will become pure. It is so easy! However, this is a battlefield; you have to battle with Maya. She repeatedly breaks your intellects’ yoga. The more loving the intellect someone has at the time of destruction, the higher the status he claims. You mustn’t remember anyone except the One. In the previous cycle, too, such ones emerged and became the beads of the rosary of victory. The rosary of Rudra is of Brahmins, who belong to the Brahmin clan and who make a lot of incognito effort. Knowledge is incognito. The Father knows each one very well. Those who were considered to be very good ones are no longer here today. There is a lot of body consciousness and they are unable to have remembrance of the Father. Maya slaps them very hard. There are very few from whom the rosary can be created. Therefore, the Father still explains to you children: Continue to look at yourselves, as to how you were such pure deities and then, from those, how you became like rubbish. You have now found Shiv Baba and so you have to follow His directions. You mustn’t remember bodily beings. You mustn’t remember anyone else. You mustn’t even keep anyone’s picture. Let there be remembrance of one Shiv Baba alone. Shiv Baba doesn’t have a body of His own. I take this one temporarily on loan. He makes so much effort to make you into deities like Lakshmi and Narayan. The Father says: You invite Me into the impure world. I purify you and you don’t even invite Me into the pure world! What would He do there? His service is to purify everyone. The Father knows that you have been so burnt that you have become like charcoal. The Father has come to make you beautiful. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Remain very accurate in service. Let there be enthusiasm for service day and night. Never renounce service and go for a rest. Become as benevolent as the Father.
  2. Become one with a loving intellect by having remembrance of the One and remove the rubbish from within you. Become a fragrant flower. Do not attach your heart to this world of rubbish.
Blessing: May you be humble and therefore great and, through your mantra of “You first”, receive respect from everyone.
Always remember this great mantra, “Those who are humble are great in every way.” To say, “You first” is the basis of receiving respect from everyone. Always keep this mantra with you and become great in the form of a blessing. By being sustained by blessings, you can fly to your destination. When you do not use your blessings you have to work hard. If you continue to be sustained by blessings, if you continue to use your blessings, the hard work will then finish and you will continue to experience constant success and contentment.
Slogan: In order to serve through your face (image), emerge your smiling, entertaining and mature form.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 16 OCTOBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 16 October 2019

To Read Murli 15 October 2019:- Click Here
16-10-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – आत्मा से विकारों का किचड़ा निकाल शुद्ध फूल बनो। बाप की याद से ही सारा किचड़ा निकलेगा”
प्रश्नः- पवित्र बनने वाले बच्चों को किस एक बात में बाप को फालो करना है?
उत्तर:- जैसे बाप परम-पवित्र है वह कभी अपवित्र किचड़े वालों के साथ मिक्सअप नहीं होता, बहुत-बहुत पोड (पवित्र) है। ऐसे आप पवित्र बनने वाले बच्चे बाप को फालो करो, सी नो ईविल।

ओम् शान्ति। बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं। हैं तो यह दोनों बाप। एक को रूहानी, दूसरे को जिस्मानी बाप कहेंगे। शरीर तो दोनों का एक ही है तो जैसेकि दोनों बाप समझाते हैं। भल एक समझाते हैं, दूसरा समझते हैं फिर भी कहेंगे दोनों समझाते हैं। यह जो इतनी छोटी-सी आत्मा है उन पर कितना मैल चढ़ा हुआ है। मैल चढ़ने से कितना घाटा पड़ जाता है। यह फायदा और घाटा तब देखने में आता है जबकि शरीर के साथ है। तुम जानते हो हम आत्मा जब पवित्र बनेंगी तब इन लक्ष्मी-नारायण जैसा पवित्र शरीर मिलेगा। अभी आत्मा में कितना मैल चढ़ा हुआ है। जब मधु (शहद) निकालते हैं तो उनको छानते हैं। तो कितनी मैल निकलती है फिर मधु शुद्ध अलग हो जाती है। आत्मा भी बहुत मैली हो जाती है। आत्मा ही कंचन थी, बिल्कुल पवित्र थी। शरीर कैसा सुन्दर था। इन लक्ष्मी-नारायण का शरीर देखो कितना सुन्दर है। मनुष्य तो शरीर को ही पूजते हैं ना। आत्मा की तरफ नहीं देखते। आत्मा की तो पहचान भी नहीं है। पहले आत्मा सुन्दर थी, चोला भी सुन्दर मिलता है। तुम भी अभी यह बनना चाहते हो। तो आत्मा कितनी शुद्ध होनी चाहिए। आत्मा को ही तमोप्रधान कहा जाता है क्योंकि उनमें फुल किचड़ा है। एक तो देह-अभिमान का किचड़ा और फिर काम-क्रोध का किचड़ा। किचड़ा निकालने के लिए छाना जाता है ना। छानने से रंग ही बदल जाता है। तुम अच्छी रीति बैठ विचार करेंगे तो फील होगा बहुत किचड़ा भरा हुआ है। आत्मा में रावण की प्रवेशता है। अभी बाप की याद में रहने से ही किचड़ा निकलता है। इसमें भी टाइम लगता है। बाप समझाते हैं देह-अभिमान होने के कारण विकारों का कितना किचड़ा है। क्रोध का किचड़ा भी कोई कम नहीं। क्रोधी अन्दर में जैसे जलता रहता है। कोई न कोई बात पर दिल जलती रहती है। शक्ल भी ताम्बे जैसी रहती है। अभी तुम समझते हो हमारी आत्मा जली हुई है। आत्मा में कितनी मैल है – अभी पता पड़ा है। यह बातें समझने वाले बहुत थोड़े हैं, इसमें तो फर्स्टक्लास फूल चाहिए ना। अभी तो बहुत खामियाँ हैं। तुमको तो सब खामियां निकाल बिल्कुल पवित्र बनना है ना। यह लक्ष्मी-नारायण कितने पवित्र हैं। वास्तव में उन्हों को हाथ लगाने का भी हुक्म नहीं है। पतित जाकर इतने ऊंच पवित्र देवताओं को हाथ लगा न सकें। हाथ लगाने लायक ही नहीं। शिव को तो हाथ लगा नहीं सकते। वह है ही निराकार, उनको हाथ लग ही नहीं सकता। वह तो मोस्ट पवित्र है। भल उनकी प्रतिमा बड़ी रख दी है क्योंकि इतनी छोटी बिन्दी उनको तो कोई हाथ लगा न सके। आत्मा शरीर में प्रवेश करती है तो शरीर बड़ा होता है। आत्मा तो बड़ी-छोटी नहीं होती है। यह तो है ही किचड़े की दुनिया। आत्मा में कितना किचड़ा है। शिवबाबा बहुत पोड (पवित्र) है। बहुत पवित्र है। यहाँ तो सबको एक समान बना देते हैं। एक-दो को कह भी देते हैं तुम तो जानवर हो। सतयुग में ऐसी भाषा होती नहीं। अभी तुम फील करते हो हमारी आत्मा में बड़ी मैल चढ़ी हुई है। आत्मा लायक ही नहीं है जो बाप को याद करे। ना-लायक समझ माया भी एकदम उनको हटा देती है।

बाप कितना पोड (पवित्र-शुद्ध) है। हम आत्मायें भी क्या से क्या बन जाती हैं। अब बाप समझाते हैं तुमने मुझे बुलाया ही है आत्मा को शुद्ध बनाने के लिए। बहुत किचड़ा भरा हुआ है। बगीचे में कोई सब फर्स्टक्लास फूल नहीं होते हैं। नम्बरवार हैं। बाप बागवान है। आत्मा कितनी पवित्र बनती है फिर कितनी मैली एकदम कांटा बन जाती है। आत्मा में ही देह-अभिमान का, काम, क्रोध का किचड़ा भरता है। क्रोध भी मनुष्य में कितना है। तुम पवित्र बन जायेंगे तो फिर कोई की शक्ल देखने की भी दिल नहीं होगी। सी नो ईविल। अप-वित्र को देखना ही नहीं है। आत्मा पवित्र बन, पवित्र नया चोला लेती है तो फिर किचड़ा देखती ही नहीं। किचड़े की दुनिया ही खत्म हो जाती है। बाप समझाते हैं तुम देह-अभिमान में आकर कितना किचड़ा बन पड़े हो। पतित बन पड़े हो। बच्चे बुलाते भी हैं – बाबा हमारे में क्रोध का भूत है। बाबा हम आपके पास आये हैं, पवित्र बनने। जानते हैं बाप तो है ही एवरप्योर। ऐसे हाइएस्ट अथॉरिटी को सर्वव्यापी कहकर कितना डिफेम करते हैं। अपने पर भी बड़ी ऩफरत आती है – हम क्या थे फिर क्या से क्या बन जाते हैं। यह बातें तुम बच्चे ही समझते हो, और कोई भी सतसंग वा युनिवर्सिटी आदि में कहाँ भी ऐसी एम ऑबजेक्ट कोई समझा न सके। अभी तुम बच्चे जानते हो हमारी आत्मा में कैसे किचड़ा भरता गया है। 2 कला कम हुई फिर 4 कला कम हुई, किचड़ा भरता गया इसलिए कहा ही जाता है तमोप्रधान। कोई लोभ में, कोई मोह में जल मरते हैं, इस अवस्था में ही जल-जलकर मर जाना है। अभी तुम बच्चों को तो शिवबाबा की याद में ही शरीर छोड़ना है जो शिवबाबा ऐसा बनाते हैं। इन लक्ष्मी-नारायण को ऐसा बाप ने बनाया ना। तो अपने को कितनी खबरदारी रखनी चाहिए। तूफान तो बहुत आयेंगे। तूफान माया के ही आते हैं, और कोई तूफान नहीं हैं। जैसे शास्त्रों में कहानी लिख दी है हनूमान आदि की। कहते हैं भगवान ने शास्त्र बनाये हैं। भगवान तो सब वेद-शास्त्रों का सार सुनाते हैं। भगवान ने तो सद्गति कर दी, उनको शास्त्र बनाने की क्या दरकार। अब बाप कहते हैं हियर नो ईविल। इन शास्त्रों आदि से तुम ऊंच नहीं बन सकते हो। मैं तो इन सबसे अलग हूँ। कोई भी पहचानते नहीं। बाप क्या है, किसको पता नहीं। बाप जानते हैं कौन-कौन मेरी सर्विस करते हैं अर्थात् कल्याणकारी बन औरों का भी कल्याण करते हैं, वही दिल पर चढ़ते हैं। कोई तो ऐसे भी हैं जिनको सर्विस का पता ही नहीं। तुम बच्चों को ज्ञान तो मिला है कि अपने को आत्मा समझो और बाप को याद करो। भल आत्मा शुद्ध बनती है, शरीर तो फिर भी यह पतित है ना। जिनकी आत्मा शुद्ध होती जाती है उनकी एक्टिविटी में रात-दिन का फर्क रहता है। चलन से भी मालूम पड़ता है। नाम कोई का नहीं लिया जाता है, अगर नाम लें तो कहीं और ही बदतर न हो जाएं।

अभी तुम फ़र्क देख सकते हो – तुम क्या थे, क्या बनना है! तो श्रीमत पर चलना चाहिए ना। अन्दर गन्द जो भरा हुआ है उसको निकालना है। लौकिक सम्बन्ध में भी कोई-कोई बहुत गन्दे बच्चे होते हैं तो उनसे बाप भी तंग हो जाते हैं। कहते हैं ऐसा बच्चा तो न होता तो अच्छा था। फूलों के बगीचे की खुशबू होती है। परन्तु ड्रामा अनुसार किचड़ा भी है। अक को तो बिल्कुल देखने भी दिल नहीं होती। परन्तु बगीचे में जाने से नज़र तो सब पर पड़ेगी ना। आत्मा कहेगी यह फलाना फूल है। खुशबू भी अच्छे फूल की लेंगे ना। बाप भी देखते हैं इनकी आत्मा कितना याद की यात्रा में रहती है, कितना पवित्र बनी है और फिर औरों को भी आपसमान बनाते हैं। ज्ञान सुनाते हैं! मूल बात ही है मनमनाभव। बाप कहते हैं मुझे याद करो तो पवित्र फूल बनो। यह लक्ष्मी-नारायण कितने पवित्र फूल थे। इनसे भी शिवबाबा बहुत पोड है। मनुष्यों को थोड़ेही पता है कि इन लक्ष्मी-नारायण को भी ऐसा शिवबाबा ने बनाया है। तुम जानते हो इस पुरूषार्थ से यह बने हैं। राम ने कम पुरूषार्थ किया तो चन्द्रवंशी बनें। बाप समझाते तो बहुत हैं। एक तो याद की यात्रा में रहना है, जिससे गंद निकले, आत्मा पवित्र बनें। तुम्हारे पास म्युज़ियम आदि में बहुत आते हैं। बच्चों को सर्विस का बहुत शौक रखना है। सर्विस को छोड़ कभी नींद नहीं करनी होती है। सर्विस पर बड़ा एक्यूरेट रहना चाहिए। म्युज़ियम में भी तुम लोग रेस्ट का टाइम छोड़ते हो। गला थक जाता है, भोजन आदि भी खाना है परन्तु अन्दर में दिन-रात उछल आनी चाहिए। कोई आये तो उनको रास्ता बतायें। भोजन के टाइम कोई आ जाते हैं तो पहले उनको अटेन्ड कर फिर भोजन खाना चाहिए। ऐसी सर्विस वाला हो। कोई-कोई को बड़ा देह-अभिमान आ जाता है, आराम-पसन्द, नवाब बन जाते हैं। बाप को समझानी तो देनी पड़े ना। यह नवाबी छोड़ो। फिर बाप साक्षात्कार भी करायेंगे – अपना पद देखो। देह-अभिमान का कुल्हाड़ा आपेही अपने पांव पर लगाया है। बहुत बच्चे बाबा से भी रीस करते हैं। अरे, यह तो शिवबाबा का रथ है, इनकी सम्भाल करनी पड़ती है। यहाँ तो ऐसे हैं जो ढेर दवाइयाँ लेते रहते, डॉक्टरों की दवाई करते रहते। भल बाबा कहते हैं शरीर को तन्दुरुस्त रखना है परन्तु अपनी अवस्था को भी देखना है ना। तुम बाबा की याद में रहकर खाओ तो कभी कोई चीज़ नुकसान नहीं करेगी। याद से ताकत भर जायेगी। भोजन बड़ा शुद्ध हो जायेगा। परन्तु वह अवस्था है नहीं। बाबा तो कहते हैं ब्राह्मणों का बनाया हुआ भोजन उत्तम ते उत्तम है परन्तु वह तब जबकि याद में रहकर बनावें। याद में रह बनाने से उनको भी फायदा, खाने वाले को भी फायदा होगा।

अक भी तो बहुत हैं ना। यह बिचारे क्या पद पायेंगे। बाप को तो रहम पड़ता है। परन्तु दास-दासियां बनने की भी नूँध है, इसमें खुश नहीं होना चाहिए। विचार भी नहीं करते हैं – हमको ऐसा बनना है। दास-दासियां बनने से फिर साहूकार बनें तो अच्छा है, दास-दासियां रख सकेंगे। बाप तो कहते हैं निरन्तर मुझ एक को याद करो, सिमर-सिमर सुख पाओ। भक्तों ने फिर सिमरणी माला बैठ बनाई है। वह भक्तों का काम है। बाप तो सिर्फ कहते हैं अपने को आत्मा समझो, बाप को याद करो। बस। बाकी कोई जाप न करो। न माला फेरो। बाप को जानना है, उनको याद करना है। मुख से बाबा-बाबा भी कहना थोड़ेही है। तुम जानते हो वह हम आत्माओं का बेहद का बाप है, उनको याद करने से हम सतोप्रधान बन जायेंगे अर्थात् आत्मा कंचन बन जायेगी। कितना सहज है। परन्तु युद्ध का मैदान है ना। तुम्हारी है ही माया से लड़ाई। वह घड़ी-घड़ी तुम्हारा बुद्धि का योग तोड़ती है। जितने-जितने विनाश काले प्रीत बुद्धि हैं उतना पद होता है। सिवाए एक के और कोई भी याद न पड़े। कल्प पहले भी ऐसे निकले हैं जो विजय माला के दाने बने हैं। तुम जो ब्राह्मण कुल के हो, ब्राह्मणों की रुण्ड माला बनती है, जिन्होंने बहुत गुप्त मेहनत की है। ज्ञान भी गुप्त है ना। बाप तो हर एक को अच्छी रीति जानते हैं। अच्छे-अच्छे नम्बरवन जिनको महारथी समझते थे, वह आज हैं नहीं। देह-अभिमान बहुत है। बाप की याद रह नहीं सकती। माया बड़ा ज़ोर से थप्पड़ मारती है। बहुत थोड़े हैं जिनकी माला बन सकेगी। तो बाप फिर भी बच्चों को समझाते हैं – अपने को देखते रहो हम कितने पवित्र देवता थे फिर हम क्या से क्या, किचड़ा बन गये हैं। अब शिवबाबा मिला है तो उनकी मत पर चलना चाहिए ना। कोई भी देहधारी को याद नहीं करना है। कोई की भी याद न आये। चित्र भी कोई का नहीं रखना है। एक शिव-बाबा की ही याद रहे। शिवबाबा को शरीर तो है नहीं। यह भी टैप्रेरी लोन लेता हूँ। तुमको ऐसा देवी-देवता लक्ष्मी-नारायण बनाने के लिए कितनी मेहनत करते हैं। बाप कहते हैं तुम हमको पतित दुनिया में बुलाते हो। तुमको पावन बनाता हूँ फिर तुम पावन दुनिया में मुझे बुलाते ही नहीं हो। वहाँ आकर क्या करेंगे! उनकी सर्विस ही पावन बनाने की है। बाप जानते हैं कि एकदम जलकर काले कोयले बन गये हैं। बाप आये हैं तुम्हें गोरा बनाने। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सर्विस में बड़ा एक्यूरेट रहना है। दिन-रात सर्विस की उछल आती रहे। सर्विस को छोड़ कभी भी आराम नहीं करना है। बाप समान कल्याणकारी बनना है।

2) एक की याद से प्रीत बुद्धि बन अन्दर का किचड़ा निकाल देना है। खुशबूदार फूल बनना है। इस किचड़े की दुनिया से दिल नहीं लगानी है।

वरदान:- “पहले आप” के मंत्र द्वारा सर्व का स्वमान प्राप्त करने वाले निर्माण सो महान भव
यही महामंत्र सदा याद रहे कि “निर्माण ही सर्व महान है”। “पहले आप” करना ही सर्व से स्वमान प्राप्त करने का आधार है। महान बनने का यह मंत्र वरदान रूप में सदा साथ रखना। वरदानों से ही पलते, उड़ते मंजिल पर पहुंचना। मेहनत तब करते हो जब वरदानों को कार्य में नहीं लगाते। अगर वरदानों से पलते रहो, वरदानों को कार्य में लगाते रहो तो मेहनत समाप्त हो जायेगी। सदा सफलता और सन्तुष्टता का अनुभव करते रहेंगे।
स्लोगन:- सूरत द्वारा सेवा करने के लिए अपना मुस्कराता हुआ रमणीक और गम्भीर स्वरूप इमर्ज करो।

TODAY MURLI 16 OCTOBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 16 October 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 15 October 2018 :- Click Here

16/10/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are now sitting in a very big steamer. Your anchor has been raised and you are going across the salty channel to the ocean of milk.
Question: In what do children especially feel tired? What is the main reason for becoming tired?
Answer: While moving along, children become tired of the pilgrimage of remembrance. The main reason for becoming tired is the influence of bad company. You go into such company that you even let go of the Father’s hand. It is said that good company takes you across and bad company drowns you. If you become influenced by the company you keep and step off the steamer, Maya eats you raw. This is why Baba cautions you children: Children, never let go of the Almighty Father’s hand.
Song: Mother, o mother, you are the Bestower of Fortune for All. 

Om shanti. The spiritual Father says to the spiritual children: Children, om shanti. This is also called the great mantra. The soul chants the mantra of his original religion. The original religion of myself, the soul, is peace. I don’t need to go to the jungles etc. for peace. I, the soul, am peaceful. These are my organs. It is in my own hands to make a sound or not make a sound. However, because people don’t have this knowledge, they continue to wander from door to door. There is a story about this: A queen had her necklace around her neck, but she had forgotten this and thought that her necklace was lost and so she searched for it outside. Then someone told her that her necklace was around her neck. This example is given. People wander from door to door. Even sannyasis etc. say: How can there be peace of mind? However, the mind and intellect are in the soul. When a soul receives these organs, he comes into ‘talkie . The Father says: You souls should remain stable in your original religion. Forget all the religions of the body. Even though Baba repeatedly explains, some of you say: Help me sit in silence. Let us have specially conducted meditation. It is wrong to say this. One soul says to another: Help me sit in silence. Oh! but is your original religion not that of peace? Can you not sit in silence by yourself? While walking and moving around, why are you not able to stabilise in your original religion? Until the Father who can show the path is found, no one is able to remain stable in the original religion. They have said that each soul is the Supreme Soul, and so they are unable to remain stable in their religion. This is your final birth in this peaceless world. You now have to go to the land of peace, and then you have to go to the land of happiness. Here, there is peacelessness in every home. In the golden age, there is light in every home. Here, there is darkness. Here, you have to stumble in every situation. There is darkness in every home and this is why they light a lamp. After Ravan dies, they celebrate Deepmala. Ravan doesn’t exist there. There is constant Deepmala there. Here, because this is the kingdom of Ravan, they celebrate Deepmala every 12 months. Soon after Ravan dies, there is the coronation of Lakshmi and Narayan. They celebrate that in happiness. In the golden age, when Lakshmi and Narayan sit on the throne, they celebrate the coronation day. You know that the kingdom of Ravan is now coming to an end. Bharat is to receive the fortune of the kingdom once again. There is no kingdom now. You are to receive the kingdom from the Father. The unlimited Father gives you the inheritance of the unlimited kingdom. The Father says: I am the One who gives you the inheritance of constant happiness. All the rest are those who give you sorrow. Perhaps they do give you some temporary happiness; that happiness is like the droppings of a crow. I give you so much happiness that there will never be any sorrow again. This is why you have to forget your body and everyone who has a bodily relationship with you. That body and all its bodily relations are going to cause you sorrow. Renounce them and remember Me alone. You have to remember Me in the morning at amrit vela. On the path of devotion too, people wake up early in the morning. Some do something by following the directions of others, and others do something else. The Father explains: Wake up early in the morning and, as much as possible, consider yourself to be a soul and remember Me, your Father. This is the Father’s order. Devotees remember God and then say that all are God! They don’t understand anything now. One day, all of them will become your friends. They will say: This is fine. To say that God is omnipresent means to sink your own boat and the boat of Bharat. Secondly, it is the Father who gives Bharat the butter of self-sovereignty. Instead of His name, they have given the name of the child, Shri Krishna, who receives the butter. This is why people think that Bharat received the butter from Krishna. They have inserted the child’s name instead of the Father’s and made everything meaningless. Krishna cannot be the God of the whole world. People have cursed themselves by following the directions of Ravan. The Father is the Boatman. All of you are the boats. You sing: Take my boat across. You are now sitting in a big steamer. The story of the steamer is mentioned in the Chandrakanta Vedanta. That story too is created referring to this time. You are going across to the other side in the steamer. You are going from the ocean of poison to the ocean of nectar or milk. A steamer that crosses the salty channel from London receives a prize. Here, it is a matter of going from hell to heaven. The ocean of poison is salty. You are sitting in a big steamer. The anchor has been raised and you have now started moving. You are now leaving and you have to go to the other side. While moving along, steamers come to the ports. Some get off the steamer there and others get on. Some go to find food and drink and get left behind. A story based on this has been created. They have also written of Krishna as Batuk Maharaj. He was the s teamer ’scaptain. If someone gets off the steamer while it’s moving along, Maya, the alligator, is waiting. She even swallows maharathis whole. They stop studying, that is, their intellects no longer have faith. They then fall into the middle of the ocean. You have seen that when a bird dies, a whole army of ants carries it away. So the evil spirits of the five vices totally eat you alive and swallow you. A long story has been written about this. Some would be sitting in the steamer and they even write a guarante e and send their photograph s. They then get spoilt by someone’s company and stop studying. Their photographs would then be sent back to them. At this time, Maya is tamopradhan. As soon as you let go of God’s hand, devils catch hold of you. So many let go of His hand while moving along and get off the steamer. Baba receives such news: This one was caught by the evil spirit of anger or the evil spirit of attachment. First of all, you have to become destroyers of attachment. You have to have attachment to only One. This requires effort. There are many chains of attachment. You now have to connect your intellects in yoga to One. When people sit to do devotion their intellects wander to their businesses and homes etc. The same happens here to you. While moving along, you remember your child or husband. The Father says: Remove your intellect’s yoga from those chains and only remember the One. If you remember anyone else at the end, if you remember your husband etc., then… At the end, no one except one Shiv Baba should be remembered. Such has to be your practice. Wake up early in the morning and remember the Father: Baba, I have come to You. I will definitely become a master of heaven. You have to remember the Father and the inheritance, that is, Alpha and beta. Allah or Alpha and then beta is the sovereignty. A soul is a point. Here, when people apply a tilak, some put a dot and some make a long line. Some make it crown-shaped, some make it like a small star. Some put a diamond. The Father says: Each of you is a soul. You know that a soul is a like a star. This soul is filled with the record of the whole drama. The Father now orders you: Constantly remember Me, the Father, and break your intellect’s yoga away from everyone else. No one else can give you this aim. The Father says: You have the sins of many births on your heads. They cannot be burnt except by having remembrance. You have to remember the Father in order to become ever healthy. Only from the Father do you receive the inheritance of becoming ever healthy and ever wealthy. What else do you need when you have health and wealth? There isn’t any pleasure if you have good health, but no wealth. If you have wealth but no health, that too is no good. You souls first have to remember the Father so that your sins are absolved and you receive health for 21 births. If you become spinners of the discus of self-realisation, you will receive wealth for 21 births. This is such an easy matter. I have been around the cycle of 84 births. Now, everything is going to turn to dust. Why should we attach our hearts to it? Your hearts have to be attached to the One who can give you the sovereignty of the new world. He speaks to souls: Children, now forget your bodies, consider yourselves to be bodiless and remember Me. You have received these bodies in order to play your parts. You have to wake up early in the morning and remember this. You have to remember the Bridegroom who takes you across the channel. All the rest will drown in the ocean of poison. The Father is the One who takes you across. He is called the Boatman and also the Master of the Garden. He makes you into flowers from thorns and sends you to heaven. Then you will never see any sorrow in heaven. This is why He is called the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. They say: Har Har Mahadev (Mahadev (Shankar), the one who removes everyone’s sorrow.) This should be said to Shiva alone. He is the Father of Brahma, Vishnu and Shankar. That Father gives you the inheritance of happiness for 21 births and so you should remember Him. This requires courage. Some become tired while remembering Him and so they stop coming here. They take such company that they leave this company. This is why it is said that good company takes you across and bad company drowns you. When you go outside, you receive bad company and so the intoxication flies away. Some people say: “The Brahma Kumaris have magic and will cast a spell on you. You shouldn’t go to them.” Many tests will come. There are many who have been here almost ten years and are then influenced by bad company. As soon as you step off the steamer, Maya eats you alive. They even have the faith that they will definitely receive the inheritance of heaven from the Father but, nevertheless, many storms of Maya come. This is a battlefield. The kingdom of Maya has continued for half the cycle. You have to conquer her. They burn Ravan’s effigy and then celebrate in happiness for a day. All of that is artificial happiness. Real happiness is received in the land of happiness. The happiness of hell is like the droppings of a crow. In heaven, there is nothing but happiness. You are now making effort for the land of happiness. In this boxing, sometimes Maya wins and sometimes the children win. This battle continues day and night. You have to catch hold of the Master’s hand fully. The Master is the Almighty Authority, the powerful One. If you let go of His hand, what can the Almighty Authority do? As soon as you let go of His hand, you fall. The aspect of the steamer is also mentioned in the scriptures. The steamer is now about to depart. There are only a few more days left. You can see Paradise in front of you. In the final moments, you will repeatedly see scenes of Paradise. Just as many of you used to see them in the beginning, so, at the end, too, you will have many visions. Those who are here and who hold on to the Father’s hand with courage will see these at the end. Some daughters will begin to say: Baba, this one will become a maid, this one will become so-and-so. Then there will be regret: I have become a maid. What else would your condition be if you haven’t made effort? There will then have to be a lot of repentance. In the beginning, you saw a lot of fun and games. There is a song: You haven’t seen what we have seen. When the time comes close, everything will be revealed; you won’t be able to study at that time. The Father will say: I explained so much to you. You still didn’t follow shrimat and so this is what your condition has become. You will receive the same status every cycle. This is why Baba says: Continue to make effort. Follow the Mother and Father. There are also some unworthy children; they are influenced by Maya and cause distress. They then receive very severe punishment and their status is also destroyed. Children have had visions of punishment too. In the world, there is devilish company whereas here, you have God’s company. Baba explains everything to you, so no one can say at that time: I didn’t know this. At the time of destruction, people will cry out in distress. You will have many visions. There will be death for the prey and victory for the hunter. In this way, you will continue to dance. You will see how your palaces are built after destruction. Those who remain alive will see everything. If, after belonging to the Father, you divorce Him, you won’t be able to see anything. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, who have come and met Baba once again after 5000 years, love, remembrance and goodmorning, numberwise, according to their efforts, the spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Continue to hold on to the Almighty Father’s hand. Attach your heart to the one Father alone. Wake up early in the morning and sit in remembrance.
  2. Remain cautious about the influence of bad company. Never stop studying due to the influence of bad company.
Blessing: May you be filled with specialities and attain the blessing of having easy yoga by being constantly co-operative in service.
Brahmin life is a life filled with specialities. To be a Brahmin means to receive the blessing of being an easy yogi. This is the first blessing of this birth. Always keep this blessing in your intellect; this is what it means to put your blessing into your practical life. The easy way to keep a blessing permanently is to use your blessing to serve all souls. To be co-operative in service is to be an easy yogi. So, keep this blessing in your awareness and become full of specialities.
Slogan: To grant a vision of your form and your elevated destination through the jewel on your forehead is to be a lighthouse.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 16 OCTOBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 16 October 2018

To Read Murli 15 October 2018 :- Click Here
16-10-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – अभी तुम बहुत बड़े स्टीमर में बैठे हो, तुम खारी चैनल को पार कर क्षीरसागर में जा रहे हो, तुम्हारा लंगर उठ चुका है”
प्रश्नः- बच्चों को विशेष थकावट किस बात में आती है? थकावट आने का मुख्य कारण क्या है?
उत्तर:- बच्चे चलते-चलते याद की यात्रा में ही थक जाते हैं, इसमें थकावट आने का मुख्य कारण है संगदोष। संग ऐसा मिल जाता है जो बाप का हाथ छोड़ देते हैं। कहा जाता है संग तारे, कुसंग बोरे। संग में आकर स्टीमर से पांव नीचे उतारा तो माया कच्चा खा लेगी इसलिए बाबा बच्चों को सावधान करते हैं – बच्चे, समर्थ बाप का हाथ कभी नहीं छोड़ना।
गीत:- माता ओ माता……… 

ओम् शान्ति। रूहानी बाप रूहानी बच्चों को कहते हैं – बच्चे, ओम् शान्ति। इसको भी महामंत्र कहा जाता है। आत्मा अपने स्वधर्म का मंत्र जपती है। मुझ आत्मा का स्वधर्म है शान्त। मुझे शान्ति के लिए कोई जंगल आदि में जाने की दरकार नहीं। मैं आत्मा शान्त स्वरूप हूँ, यह मेरे आरगन्स हैं। आवाज करना, न करना, यह तो मेरे हाथ में है। परन्तु यह ज्ञान न होने कारण दर-दर भटकते हैं। इस पर एक कहानी भी है – एक रानी का हार गले में था लेकिन वह भूल गई, उसे लगा कि मेरा हार खो गया है, तो वह बाहर ढूंढ रही थी। फिर कोई ने कहा – हार तो गले में पड़ा है। यह दृष्टान्त देते हैं। मनुष्य दर-दर भटकते हैं ना। सन्यासी आदि भी कहते हैं मन की शान्ति कैसे हो, परन्तु आत्मा में ही मन बुद्धि है। आत्मा इन आरगन्स में आने से टॉकी बनती है। बाप कहते हैं तुम आत्मा अपने स्वधर्म में रहो। इस देह के सब धर्म भूल जाओ। बार-बार समझाते हैं तो भी कोई-कोई कहते हैं हमको शान्त में बिठाओ, नेष्ठा कराओ। यह भी कहना रांग है। एक आत्मा दूसरी आत्मा को कहती है कि मुझे शान्त में बिठाओ। अरे, क्या तुम्हारा स्वधर्म शान्त नहीं है? तुम आपेही नहीं बैठ सकते हो? चलते-फिरते तुम स्वधर्म में क्यों नहीं टिकते हो? जब तक रास्ता बताने वाला बाप नहीं मिला तब तक स्वधर्म में कोई टिक नहीं सकते। उन्होंने तो कह दिया है आत्मा सो परमात्मा तो स्वधर्म में टिक नहीं सकते। इस अशान्त देश में तुम्हारा यह अन्तिम जन्म है। अभी तुमको चलना है शान्त देश में, फिर जाना है सुखधाम में। यहाँ तो घर-घर में अशान्ति है। सतयुग में घर-घर में रोशनी है। तो यहाँ अन्धियारा है, यहाँ हर बात में ठोकर खानी पड़ती है। घर-घर में अन्धियारा है इसलिए दीप जलाते हैं। जब रावण मरता है फिर दीपमाला मनाते हैं। वहाँ तो रावण होता नहीं। तो सदैव दीपमाला ही है। यहाँ रावण राज्य के कारण 12 मास के बाद दीपमाला मनाते हैं। रावण मरा और लक्ष्मी-नारायण का कारोनेशन हुआ। उनकी खुशी मनाते हैं। सतयुग में जब लक्ष्मी-नारायण तख्त पर बैठते हैं तो कारोनेशन मनाते हैं। तुम जानते हो अभी रावण राज्य पूरा होगा। भारत को फिर से राज्य-भाग्य मिलना है। अभी कोई राज्य नहीं है। बाप से राज्य मिलना है। बेहद का बाप बेहद की राजधानी का वर्सा देते हैं। बाप कहते हैं मैं तुमको सदा सुख का वर्सा देने वाला हूँ, बाकी और सभी तुमको दु:ख देने वाले हैं। करके कोई सुख भी देंगे तो अल्पकाल क्षणभंगुर। वह सुख है काग विष्टा समान। मैं तुमको इतना सुख देता हूँ जो फिर कभी दु:ख होगा ही नहीं इसलिए इस देह सहित देह के सम्बन्ध रखने वालों को भूलो। यह देह और देह के सम्बन्धी तुमको दु:ख देने वाले हैं, इनको छोड़ मुझ एक को याद करो। याद करना होता है – सवेरे अमृतवेले। भक्तिमार्ग में भी मनुष्य सवेरे उठते हैं। कोई किसकी मत पर क्या करते, कोई क्या करते हैं? बाप समझाते हैं सवेरे उठकर जितना हो सके अपने को आत्मा समझ मुझ बाप को याद करो। यह है बाप का फ़रमान।

भक्त भगवान् को याद भी करते हैं और फिर कह देते सब भगवान् हैं। अभी वह समझते नहीं हैं। एक दिन वह सब तुम्हारे मित्र बनेंगे। कहेंगे यह बात तो ठीक है। ईश्वर सर्वव्यापी कहना गोया अपना और भारत का बेड़ा गर्क करना है। दूसरी बात – भारत को स्वराज्य का मक्खन दिलाने वाला है बाप, उनके बदले फिर नाम रख दिया है बच्चे का, जिस श्रीकृष्ण को मक्खन मिलता है। तो मनुष्य समझते हैं भारत को मक्खन दिलाने वाला कृष्ण है। बाप के बदले बच्चे का नाम डाल अनर्थ कर दिया है। अब सारी दुनिया का भगवान् कोई कृष्ण तो हो नहीं सकता। मनुष्यों ने रावण की मत पर अपने आपको श्रापित किया है। बाप है खिवैया, तुम सब हो नईया (नांव)। गाते हैं ना – नईया मेरी पार करो। अभी तुम बैठे हो – बड़े स्टीमर में। चन्द्रकांत वेदान्त में स्टीमर की बात है। वह भी अभी का बनाया हुआ है। तुम स्टीमर में उस पार जा रहे हो। विषय सागर से अमृत अथवा क्षीरसागर में जाते हो। जैसे लण्डन से खारी चैनल से जो स्टीमर पार करते हैं, उनको इनाम मिलता है। यह फिर नर्क से स्वर्ग जाना है। विषय सागर खारी है। तुम बड़े स्टीमर पर बैठे हो। तुम चल पड़े हो, लंगर उठ गया है। तुम जा रहे हो, उस पार जाना है। स्टीमर चलते-चलते पोर्ट आते हैं। वहाँ पर कोई उतरते हैं, कोई चढ़ते हैं। कोई खान-पान के पीछे जाते हैं तो रह जाते हैं। इस पर एक कहानी बनाई हुई है। कृष्ण को बटुक महाराज लिख दिया है। वह स्टीमर का कैप्टन है। फिर स्टीमर से चलते-चलते कई उतर जाते हैं तो वहाँ माया अजगर बैठी है। महारथियों को भी हप कर खा जाती है। पढ़ाई को छोड़ देते हैं गोया निश्चयबुद्धि न रहे। फिर बीच सागर में गिर पड़ते हैं।

तुमने देखा है – पंछी मरते हैं तो फिर चीटिंयों का झुण्ड आकर उनको उठाते हैं। तो यह 5 विकारों रूपी भूत एकदम कच्चा खाकर हप कर लेते हैं। इस पर बड़ी कहानी लिखी हुई है। समझो कोई स्टीमर में बैठे हैं – गैरन्टी भी लिखते हैं, फोटो भी अपना भेज देते हैं। फिर अगर किसके संग में बिगड़ गये तो पढ़ाई छोड़ देंगे, फिर वह चित्र उनको वापस भेज देंगे। इस समय माया है तमोप्रधान। ईश्वर का हाथ छोड़ा और असुर पकड़ लेंगे। ऐसे बहुत चलते-चलते हाथ छोड़ उतर जाते हैं। समाचार आते हैं – इनको क्रोध के भूत ने, मोह के भूत ने पकड़ लिया है। पहले तो नष्टोमोहा बनना पड़े। मोह एक से रखना चाहिए। यह है मेहनत। मोह की जंजीरें बहुत लगी हुई हैं। अब एक से बुद्धियोग लगाना है। जैसे मनुष्य भक्ति बैठ करते हैं तो बुद्धि धन्धे तरफ, घर तरफ चली जाती है। यहाँ भी तुम्हारा ऐसे होगा। चलते-चलते तुमको बच्चा याद आ जायेगा। पति याद आ जायेगा। बाप कहते हैं इन जंजीरों से बुद्धियोग हटाकर एक को याद करो। अगर अन्त समय और कोई स्मृति आई तो अन्तकाल जो पति सिमरे…….. पिछाड़ी में सिवाए शिवबाबा के और कोई याद न आये, ऐसा अभ्यास डालना है। सवेरे उठ बाप को याद करो। बाबा हम आपके पास आये हैं – जरूर हम स्वर्ग के मालिक बनेंगे। बाप और वर्से को अर्थात् अल्फ और बे को याद करना है। अल्फ अल्लाह, बे बादशाही। आत्मा बिन्दी है। यहाँ मनुष्य टीका लगाते हैं तो कोई बिन्दी लगाते हैं, कोई लम्बा तिलक लगाते हैं, कोई क्राउन मुआफिक करते हैं, कोई छोटा स्टॉर लगा देते हैं, कोई हीरा लगाते हैं। बाप कहते हैं तुम आत्मा हो। जानते हो आत्मा स्टार मिसल है। उस आत्मा में सारे ड्रामा का रिकार्ड भरा हुआ है। अब बाप फ़रमान करते हैं निरन्तर मुझ बाप को याद करो और सबसे बुद्धियोग तोड़ो। यह लक्ष्य और कोई भी दे न सके। बाप कहते हैं तुम्हारे सिर पर जन्म-जन्मान्तर के पाप हैं। वह याद के सिवाए भस्म नहीं होंगे। एवरहेल्दी बनने लिए बाप को याद करना है। बाप से ही वर्सा मिलता है। एवरहेल्दी और एवरवेल्दी-पने का। हेल्थ-वेल्थ है तो बाकी और क्या चाहिए! हेल्थ है, वेल्थ नहीं तो भी मजा नहीं। वेल्थ है, हेल्थ नहीं तो भी मजा नहीं। आत्मा को पहले बाप को याद करना है तो विकर्म विनाश होंगे और 21 जन्मों के लिए हेल्थ मिलेगी और स्वदर्शन चक्रधारी बनेंगे तो फिर 21 जन्मों लिए वेल्थ मिलेगी। कितनी सहज बात है। हमने 84 जन्म ऐसे चक्र लगाया है। अभी सब खाक हो जाने वाले हैं, उनसे दिल क्यों लगायें? दिल उनसे लगानी है जो नई दुनिया की बादशाही दे। आत्माओं से बात करते हैं – बच्चे, अब इस शरीर को भूल अपने को अशरीरी समझ मुझे याद करो। यह शरीर तुमको पार्ट बजाने के लिए मिला है। सवेरे उठकर यह सिमरण करना चाहिए। साजन जो खाड़ी से पार ले जाते हैं, उनको याद करना है, बाकी और सब विषय सागर में डूबने वाले हैं। बाप है पार करने वाला, उनको खिवैया, बागवान भी कहा जाता है। तुमको कांटे से फूल बनाकर स्वर्ग में भेज देते हैं। फिर स्वर्ग में तुम कभी दु:ख नहीं देखेंगे इसलिए उनको कहते हैं दु:ख हर्ता, सुख कर्ता। हर-हर महादेव कहते हैं ना। शिव को ही कहेंगे। यह है ब्रह्मा, विष्णु, शंकर का भी बाप। वही बाप 21 जन्म के लिए सुख का वर्सा देते हैं तो उसको याद करना चाहिए ना, इसमें चाहिए हिम्मत। याद करते-करते थक जाते हैं तो चलना ही बन्द कर देते हैं। संग ऐसा मिल जाता जो छोड़ देते हैं इसलिए कहा जाता है संग तारे, कुसंग बोरे। बाहर जाने से कुसंग मिलेगा, तो नशा उड़ जायेगा। कोई कहेंगे ब्रह्माकुमारियों के पास तो जादू है, लग जायेगा। इनके पास नहीं जाना। परीक्षायें तो आयेंगी। ऐसे बहुत होते हैं – 10 वर्ष रहकर भी फिर संगदोष में आ जाते हैं। पांव नीचे उतारा और माया कच्चा खा लेती। यह भी निश्चय करते हैं कि बाप से स्वर्ग का वर्सा जरूर मिलता है। फिर भी माया के बड़े तूफान आते हैं, यह युद्ध का मैदान है। आधाकल्प माया का राज्य चला है। अब उन पर विजय पानी है। रावण को जलाते हैं फिर एक दिन खुशी मनाते हैं। यह सब आर्टीफिशल सुख है। रीयल सुख मिलता है सुखधाम में। बाकी नर्क का सुख है काग विष्टा के समान। स्वर्ग में तो सुख ही सुख है। तुम सुखधाम के लिए पुरुषार्थ कर रहे हो। बॉक्सिंग में कभी माया की जीत, कभी बच्चों की जीत होती है। यह युद्ध रात दिन चलती है। उस्ताद का हाथ पूरा पकड़ना है। उस्ताद सर्वशक्तिमान, समर्थ है। हाथ छोड़ देंगे तो फिर सर्वशक्तिमान भी क्या करे? हाथ छोड़ा यह गया। स्टीमर की बात शास्त्रों में भी है। अब स्टीमर जा रहा है। बाकी थोड़े दिन है। वैकुण्ठ तो सामने देखने में आता है। पिछाड़ी के टाइम तो घड़ी-घड़ी वैकुण्ठ के दृश्य देखते रहेंगे। जैसे शुरूआत में बहुत देखते थे। पिछाड़ी में भी तुमको बहुत साक्षात्कार होगा। जो यहाँ होंगे, जो हिम्मत से हाथ पकड़ कर रखते हैं, वही अन्त समय यह सब देखेंगे। बच्चियां बतलाने लग पड़ेंगी – बाबा, यह दासी बनने वाली है, यह फलानी बनने वाली है। फिर अ़फसोस करेंगे – हम दासी बन गये। मेहनत नहीं की तो और क्या हाल होगा? फिर बहुत पछताना होगा। शुरूआत में तुमने बहुत खेलपाल देखे हैं। गीत है ना जो हमने देखा…… तो जैसे समय नजदीक आता जायेगा, सब बतलाते रहेंगे फिर पढ़ाई तो हो न सके। बाप कहेंगे तुमको कितना समझाया, तुम श्रीमत पर न चले तो यह हाल हुआ, अब कल्प-कल्प यह पद मिलता रहेगा इसलिए बाबा कहते हैं अपना पुरुषार्थ करते रहो, मात-पिता को फालो करो। कई कपूत बच्चे भी होते हैं ना। माया के वश हो तंग करते हैं फिर बहुत भारी सजा खायेंगे, पद भी भ्रष्ट हो जायेगा। सजाओं का भी बच्चियों ने साक्षात्कार किया है। दुनिया में है आसुरी संग और यहाँ है ईश्वरीय संग। बाबा सब बातें समझाते हैं फिर ऐसे कोई न कहे कि हमको क्या पता? विनाश के समय मनुष्य बहुत त्राहि-त्राहि करने लग पड़ेंगे। तुम बहुत साक्षात्कार करते रहेंगे। मिरूआ मौत मलूका शिकार…… इसी प्रकार से तुम डांस करते रहेंगे। तुम देखते रहेंगे कि विनाश के बाद फिर हमारे महल कैसे बनते हैं। जो जीते रहेंगे वह सब देखेंगे। बाप का बनकर फिर अगर फ़ारकती दे दी तो देख थोड़ेही सकेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे 5 हजार वर्ष बाद फिर से आकर मिले हुए बच्चों प्रति नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) समर्थ बाप का हाथ पकड़कर रखना है, एक बाप से ही दिल लगानी है, सवेरे उठकर याद में बैठना है।

2) संगदोष से अपनी सम्भाल करनी है। कुसंग में आकर कभी पढ़ाई नहीं छोड़नी है।

वरदान:- सेवाओं में सदा सहयोगी बन सहजयोग का वरदान प्राप्त करने वाले विशेषता सम्पन्न भव
ब्राह्मण जीवन विशेषता सम्पन्न जीवन है, ब्राह्मण बनना अर्थात् सहजयोगी भव का वरदान प्राप्त करना। यही सबसे पहला जन्म का वरदान है। इस वरदान को बुद्धि में सदा याद रखना-यह है वरदान को जीवन में लाना। वरदान को कायम रखने की सहज विधि है-सर्व आत्माओं के प्रति वरदान को सेवा में लगाना। सेवा में सहयोगी बनना ही सहजयोगी बनना है। तो इस वरदान को स्मृति में रख विशेषता सम्पन्न बनो।
स्लोगन:- अपने मस्तक की मणी द्वारा स्वयं का स्वरूप और श्रेष्ठ मंजिल का साक्षात्कार कराना ही लाइट हाउस बनना है।
Font Resize